brahma kumaris murli 14 december 2017

TODAY MURLI 14 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 December 2017 :- Click Here

14/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have received the third eye of knowledge and you have become trikaldarshi, but you cannot be given those ornaments at this time because you are effort-makers.
Question: While living at home with your family you definitely have to do things, but what one thing do you have to be very cautious about?
Answer: While doing everything and interacting with everyone, be very cautious about your food. Don’t eat food prepared by impure human beings. Continue to protect yourselves. Don’t become renunciates of action, but definitely do take precautions. You are karma yogis. While doing everything, stay in remembrance of the Father and your sins will be absolved.

Om shanti. The Father sits here and explains to you children. When someone relates the Gita etc., he says: Whenever there is extreme irreligiousness, I come. Whenever there is defamation of religion and unrighteousness grows, God comes. There truly is defamation of religion. Defamation is insult. So, there is defamation of religion and an increase of unrighteousness in Bharat. I come when it is in this condition. There is a lot of sorrow and death is just ahead. Missiles too are ready for destruction. You children know that Baba has now come to establish the original eternal deity religion. There is establishment through Brahma, destruction through Shankar and sustenance through Vishnu. Truly, these three acts take place at this time. You are now Brahmins and you know that you are now changing from Brahmins into deities. You are now the grandchildren of Shiv Baba. Shiv Baba has one child. From one, so many of you continue to become children. You are doing the service of purifying the impure. This is the unlimited sacrificial fire. The whole of the old world will be sacrificed in the sacrificial fire. There will be no more sacrificial fires after this sacrificial fire. No one creates any sacrificial fires in the golden and silver ages. Sacrificial fires are created to remove obstacles. This is a very big obstacle and so a very big sacrificial fire is needed for it. This is the unlimited sacrificial fire. All the materials of the old world are to be sacrificed into it whatever they are. Rudra and Shiv Baba are one and the same. As is the form of Shiva, so is the form of Rudra. Krishna is a corporeal being. The real name of this is: The sacrificial fire of the knowledge of Shiva. “Shiv Baba” is said, not “Rudra Baba”. Shiv Baba is called the Innocent Lord. This is the sacrificial fire of Shiv Baba. We are receiving the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world from Him. You know that you have each received a third eye of knowledge. They show deities with a third eye. However, it is the third eye of knowledge which you Brahmins receive. Through this you become deities. There is no need for a third eye there. However, you cannot be shown with it here because you are effort-makers. While moving along, some ran away and that is why these ornaments were given to those who achieved the final result. Otherwise, the deities don’t have the conch shell or the discus of self-realisation etc. That One tells you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world cycle. They have then written in the scriptures that so-and-so was killed and that it was done with the discus of self-realisation. The Father says: I come to purify the impure. There is no question of violence in this. The deities have the supreme religion of non-violence. How can they then write about Krishna committing violence? They have created such wonderful pictures! He relates the Gita there, he teaches Raja Yoga there and then he kills someone there! You remember the Father for Him to come and purify the impure world and teach Raja Yoga. The Father says: I am the Ocean of Knowledge and the k nowledge-full One. You are receiving knowledge and this is called the story of immortality. They say that Shiva and Shankar are one and the same. Shankar is a resident of the subtle region, so how would he relate a story? He cannot be called knowledge-full. Shiv Baba explains the secrets of the whole world cycle. No one else has this knowledge. It is because of not knowing the Father that everyone has become an orphan ; they continue to fight and quarrel. There is no battling in the golden age. There is no weeping or wailing. That is why they relate the story of the king who conquered attachment. There are many stories. There are many different stories in every religion. All of those are the paraphernalia of the path of devotion. They perform devotion in order to meet God. They have been performing devotion for half the cycle, and yet no one has found God. The Father has now given you children His introduction. You then have to give it to others. It is said: Son shows Father. Therefore, give the Father’s introduction and continue to relate this knowledge to everyone. It is in the intellect of each of you children that Shiv Baba is your spiritual Father. You also have to explain to people on the path of devotion that they have two fathers. One is a worldly father and the other is the Father from beyond the world who is also called God, the Father, who created this unlimited creation. You must definitely be receiving the inheritance from the Father. He is the One who creates heaven. Bharat used to be heaven. It was the kingdom of this Lakshmi and Narayan. Who gave them that kingdom? At the end of the iron age, no one is a master of the world. This is the kingdom of Ravan. People say: We want the kingdom of Rama, the new deity kingdom in New Delhi. The golden and silver ages are the kingdom of Rama. The copper and iron ages are the kingdom of Ravan. The path of devotion begins with the copper age. Vices also begin at that time; there are the signs of that. In Jagannathpuri they have dirty images of the deities outside the temple. They have the same throne and crown, but they have portrayed them indulging in vice. There is upheaval of the earth when the deities go onto the path of sin. The golden palaces studded with diamonds go down below. They built such a grand temple for worship on the path of devotion. Those who were worthy of worship became worshippers of themselves. The Father explains: I do not become a worshipper. If I became that, who would then make Me worthy of worship? Neither do I become impure nor do I make anyone impure. It is Ravan, whose effigy you continue to burn, who makes you impure. At this time this is the world of sinful souls. They sing: O Purifier, come! Then, they also say: The Purifier is Rama who belongs to Sita. They quickly remember the Rama of the silver age. However, he is not the Purifier. The Father explains all of these things. All of you are Sitas and Draupadis. It is not a question of just one. They show Draupadi with five husbands. It wasn’t like that. Bharat was an ancient, pure land because it was the birthplace of the Purifier, the Supreme Father, the Supreme Soul. He came here and uplifted the impure residents of hell. People of all religions remember God, the Father, because they are all tamopradhan. Abraham, Buddha etc. are all present at this time. Even the first number Brahma is in the impure world. Therefore, how could anyone else go back? At this time, everyone is in a graveyard. The Father comes and grants everyone salvation or liberation. In the golden age Bharat was pure. They sing in front of the deity idols: You are full of all virtues, completely viceless; we are vicious. At this time all are vicious. The Father has to come to make everyone viceless. Therefore, the Father, not the water of the rivers, is the Purifier. You are the Ganges of knowledge who have emerged from the Purifier, the Ocean of Knowledge. This is the Shiv Shakti Army. You receive the urn of knowledge from Shiva. The Father says: Children, become pure while living at home with your family. You also definitely have to do things. This is karma yoga; there cannot be renunciation of action. Those people think that because they don’t prepare food at home but live on whatever they manage to beg, they are renunciates of action; they are beggars. The food they eat is that of those who indulge in vice and so they are influenced by that food. Although they have left their impure homes, they still have to take birth in impure homes. You too are affected by the food you eat. This is why you are told to take precautions. You shouldn’t eat food prepared by impure people. Continue to protect yourself as much as possible. Some even quarrel a lot because of this. There are many such cases where one brother is on the path of knowledge and the other one isn’t. You are claiming such an unlimited kingdom and so there will definitely be some quarrelling. You have to continue to protect yourself under all circumstances. No one attains liberation. They simply tell lies when they say that they will merge into the element of light. When you continue to explain to them, it will eventually enter their intellects that this is right. If the duration of the golden age were hundreds of thousands of years, the population would be very large. The population now is even less than that of other religions because they have been converted into other religions. Those of the deity religion are the sun dynasty. Even Rama has been given the symbol of a warrior. You are now spiritual warriors; you are conquering Maya. You need a very good intellect to understand this. Yoga is very easy. Souls have yoga with the Supreme Father, the Supreme Soul. There are also many yoga ashrams, but all of them teach hatha yoga. They don’t tell you to have yoga with the Supreme Father, the Supreme Soul. You children know that you have found Baba in the form of the Agent. He says: Constantly remember Me alone and the alloy will be removed. By remembering Me you will go to the land of liberation. The Father sits here and explains: Children, look at what the condition of the world has become! You, who were the masters of the world, have now become beggars. You now have to change from beggars to princes. Bharat is a beggar. Impure kings build temples to the pure emperors and empresses and worship them. They worship incorporeal Shiv Baba. He must definitely have done something. There are so many temples. You now know that He came 5000 years ago and taught you Raja Yoga. You have claimed and lost the kingdom innumerable times. Now remember the land of peace and the land of happiness and continue to forget the land of sorrow. All of it is to be destroyed. You will then become the masters of heaven. The Father says: I am your unlimited Father. I have come to give you your unlimited inheritance. You have the happiness in your hearts that you are establishing your own kingdom by following shrimat. However, all of this is incognito. You have to conquer Ravan. It is remembered that those who conquer Maya conquer the world. You have to conquer the five vices. You have to renounce the five vices. The one Father is the Boatman. Without the Satguru who grants everyone salvation, there is extreme darkness. There are many gurus in Bharat: each woman’s husband is her guru. So, why is there so much degradation? They say that everyone is a form of God. “I am God”. So, with whom should there be yoga? In that case, devotion would also end. So, to whom are you calling out when you say, “O God”? For whom are you making spiritual endeavour? God Himself would not fall ill. However, there is no one to ask these questions. They are afraid that they will perhaps be cursed. In fact it is Ravan who curses you. The Father gives you the inheritance. Ravan is an enemy and that is why people continue to burn his effigy. Do they ever burn the image of Lakshmi and Narayan? Certainly not! You now know what Ravan is. In the pure household of the golden age, you had happiness. Now, in the impure household, there is sorrow. This is now to be destroyed. You will see how earthquakes continue to take place. For how long would Baba sit here and continue to give you teachings? There would have to be a limit. The kingdom will be established and destruction will take place. At the end, you will see many amazing scenes, even more than at the beginning. That was in Pakistan. It is now the time of destruction. Baba will show you many things. Then those who haven’t studied well will become very desperate. What could be done then? Make as much effort as you want now. You have to look after your children etc. You mustn’t become cowards. Follow shrimat at every step. Continue to remember the Father, that’s all! It is this that requires effort. How can the burden of sin on your heads be removed? There is easy yoga for that. This is the power of knowledge and it is through the power of yoga that you conquer Maya and become the masters of the world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Conquer Maya with the power of knowledge and yoga by following shrimat. Have your sins absolved before destruction takes place.
  2. In order to claim the unlimited kingdom, continue to protect yourself in every way. Be very cautious about being affected by the food you eat.
Blessing: May you become a holy swan by finishing the waste of impurity and becoming completely clean.
The speciality of a holy swan is constantly to pick up jewels of knowledge. Then by using the power of discernment, to separate milk from water, that is, to discern between the wasteful and the powerful. To be a holy swan means to be constantly clean. Cleanliness means purity and not to be even slightly influenced by any dirt nor any impurity of waste. If there is any waste, you cannot then be said to be completely clean. Let your intellect constantly churn the jewels of knowledge. If the churning of knowledge continues, there will not be any waste. This is known as picking up jewels.
Slogan: When the boat and the Boatman are strong, even storms become a gift.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 14 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 December 2017

To Read Murli 13 December 2017 :- Click Here
14/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है, तुम त्रिकालदर्शी बने हो लेकिन यह अलंकार अभी तुम्हें नहीं दे सकते क्योंकि तुम पुरुषार्थी हो”
प्रश्नः- गृहस्थ में रहते कर्म अवश्य करना है लेकिन किस एक बात की सम्भाल जरूर रखनी है?
उत्तर:- कर्म करते, व्यवहार में आते अन्न की बहुत परहेज़ रखनी है। पतितों के हाथ का नहीं खाना है, अपने को बचाते रहना है। कर्म सन्यासी नहीं बनना है लेकिन परहेज़ जरूर रखनी है। तुम कर्मयोगी हो। कर्म करते बाप की याद में रहो तो विकर्म विनाश होंगे।

ओम शान्ति। बाप बच्चों को बैठ समझाते हैं। जब कोई गीता आदि सुनाते हैं तो कहते हैं यदा यदाहि… जब-जब धर्म की ग्लानि, अधर्म की वृद्धि होती है, तब भगवान आते हैं। बरोबर धर्म की ग्लानि होती है। ग्लानि माना निंदा… तो भारत में धर्म की ग्लानि और अधर्म की वृद्धि हो जाती है। मैं आता ही तब हूँ, जब यह हालत होती है। बहुत दु:ख है, मौत सामने खड़ा है। विनाश के लिए मूसल भी तैयार हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो बाबा आया हुआ है, आदि सनातन धर्म की स्थापना करने। ब्रह्मा द्वारा स्थापना, शंकर द्वारा विनाश, विष्णु द्वारा पालना… बरोबर यह तीनों कर्तव्य अभी चल रहे हैं।

अभी तुम ब्राह्मण हो और जानते हो अभी हम ब्राह्मण से फिर देवता बन रहे हैं। अभी शिवबाबा के पोत्रे हैं। शिवबाबा का एक बच्चा, एक से फिर तुम कितने बच्चे बनते जाते हो। पतितों को पावन बनाने की सेवा तुम कर रहे हो। यह है बेहद का यज्ञ। यज्ञ में सारी पुरानी दुनिया स्वाहा हुई थी। इस यज्ञ के बाद फिर कोई यज्ञ होगा ही नहीं। सतयुग त्रेता में कोई यज्ञ रचते ही नहीं। यज्ञ रचते ही हैं विघ्नों को हटाने के लिए। यह तो बहुत भारी विघ्न है, तो इसके लिए बड़ा यज्ञ चाहिए। यह है बेहद का यज्ञ। इसमें पुरानी दुनिया की सामग्री जो भी है सब स्वाहा होनी है। रुद्र अथवा शिवबाबा एक ही है। जैसे शिव का रूप है वैसे रुद्र का भी रूप है। कृष्ण तो साकारी है, इसका सच्चा-सच्चा नाम ही है शिव ज्ञान यज्ञ। शिवबाबा कहते हैं, रुद्र बाबा नहीं कहते हैं। भोला भण्डारी शिवबाबा को कहते हैं। यह है शिवबाबा का यज्ञ। उनसे हमें सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज मिल रही है। तुम जानते हो हमको ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। देवताओं को तीसरा नेत्र दिखाते हैं ना। परन्तु यह है ज्ञान का तीसरा नेत्र जो तुम ब्राह्मणों को मिलता है, जिससे तुम देवता बनते हो। वहाँ तीसरे नेत्र की दरकार नहीं है। परन्तु तुमको तो दिखा नहीं सकते क्योंकि तुम पुरुषार्थी हो। चलते-चलते भाग जाते हो इसलिए जो फाइनल रिजल्ट वाले हैं उनको यह अलंकार दिये हैं। नहीं तो देवताओं के पास थोड़ेही शंख, चक्र आदि हैं। यह सृष्टि चक्र के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज तुमको सुना रहे हैं। उन्होंने फिर शास्त्रों में लिख दिया है कि स्वदर्शन चक्र से फलाने को मारा, यह किया। बाप कहते हैं मैं तो पतितों को पावन बनाने आता हूँ, इसमें हिंसा की तो बात ही नहीं है। देवताओं का है ही अहिंसा परमो धर्म। कृष्ण के लिए फिर हिंसा करना कैसे लिखा है। कैसे वन्डरफुल चित्र बनाये हैं। वहाँ ही गीता सुनाते, राजयोग सिखाते, वहाँ ही फिर किसको मारते हैं। बाप को तो याद करते ही इसलिए है कि आकर पतित दुनिया को पावन बनाओ, राजयोग सिखाओ। बाप कहते हैं ज्ञान का सागर, नॉलेजफुल मैं हूँ। तुमको नॉलेज मिल रही है, इसको ही अमरकथा कहते हैं। वह तो शिवशंकर को एक कह देते हैं। शंकर सूक्ष्मवतनवासी, वह कैसे कथा सुनायेंगे। उनको तो नॉलेजफुल नहीं कहा जाता। शिवबाबा सारे सृष्टि चक्र का राज़ समझाते हैं। जो नॉलेज कोई के पास है नहीं। बाप धनी को न जानने के कारण ही आरफन बन पड़े हैं। लड़ते-झगड़ते रहते हैं। सतयुग में कोई झगड़ा होता ही नहीं। न रोना, न पीटना… इसलिए मोहजीत राजा की कथा सुनाते हैं। कथायें तो ढेर हैं। हर एक धर्म में किसम-किसम की कथायें हैं, जो सब भक्ति मार्ग की सामग्री है। भक्ति करते हैं भगवान से मिलने लिए। आधाकल्प भक्ति करते आये हैं। भगवान तो किसको मिला ही नहीं। अब बाप ने तुम बच्चों को परिचय दिया है। तुम्हें फिर औरों को देना है। सन शोज़ फादर… तो बाप का परिचय दे सबको नॉलेज बताते रहते हो।

तुम हर एक बच्चे की बुद्धि में है कि शिवबाबा हमारा रूहानी बाप है। यह भी भक्ति मार्ग वालों को समझाना है कि तुम्हारे दो बाप हैं। एक लौकिक बाप, दूसरा पारलौकिक बाप, जिसको गॉड फादर कहते हैं जिसने यह बेहद की रचना रची है। बाप से तो जरूर वर्सा मिलता होगा। वह है ही स्वर्ग की रचना रचने वाला। भारत स्वर्ग था। इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। उन्हों को यह राज्य किसने दिया? कलियुग अन्त में कोई भी विश्व का मालिक है नहीं। यह है ही रावण का राज्य, खुद भी कहते हैं हमको रामराज्य, नई देहली में दैवी राज्य चाहिए। रामराज्य है सतयुग-त्रेता। रावण राज्य है द्वापर कलियुग। द्वापर से ही भक्ति मार्ग शुरू होता है। विकार भी शुरू होते हैं, जिसकी निशानियाँ भी हैं। जगन्नाथपुरी के मन्दिर में बाहर देवताओं के गन्दे चित्र बनाये हैं। ताज तख्त आदि वही है, सिर्फ चित्र विकारी दिखाते हैं। जब देवतायें वाम मार्ग में जाते हैं तो फिर धरती की उथल पाथल भी होती है। सोने-हीरे के महल सब नीचे चले जाते हैं। पूजा के लिए कितना भारी मन्दिर बनाया है, भक्ति मार्ग में। आपे ही पूज्य आपेही पुजारी। बाप समझाते हैं – मैं तो पुजारी नहीं बनता हूँ। अगर मैं बनूँ तो मुझे फिर पूज्य कौन बनायेगा? मैं न पतित बनता हूँ, न बनाता हूँ। पतित तुमको रावण बनाते हैं, जिसको जलाते आते हैं। इस समय पाप आत्माओं की दुनिया है। गाते भी हैं पतित-पावन आओ। फिर कह देते पतित-पावन सीताराम। झट त्रेता वाले राम की याद आ जाती है। अब वह तो पतित-पावन नहीं है। बाप यह सब बातें समझाते हैं। तुम सब सीतायें हो, द्रोपदियाँ हो। एक की बात नहीं है। द्रोपदी को 5 पति दिखाते हैं। ऐसी बात है नहीं। भारत ही प्राचीन पवित्र खण्ड था क्योंकि पतित-पावन परमपिता परमात्मा का बर्थ प्लेस है। उसने यहाँ आकर पतित नर्कवासियों का उद्धार किया है। सब धर्म वाले गॉड फादर को याद करते हैं क्योंकि सब तमोप्रधान हैं। इब्राहिम, बौद्ध आदि सब इस समय हाज़िर हैं। पहला नम्बर ब्रह्मा भी पतित दुनिया में है तो और कोई वापस कैसे जा सकता। सभी इस समय कब्रदाखिल हैं। बाप आकर सबको गति सद्गति देते हैं। सतयुग में भारत पवित्र था। देवताओं के आगे गाते भी हैं आप सर्वगुण सम्पन्न, सम्पूर्ण निर्विकारी… हम विकारी हैं। इस समय सब विकारी हैं, सबको निर्विकारी बनाने बाप को आना पड़ता है। तो पतित-पावन बाप ठहरा, न कि पानी की नदियाँ। पतित-पावन ज्ञान सागर से निकली हुई यह ज्ञान गंगायें। शिव शक्ति सेना है। शिव से ज्ञान का कलष मिलता है। बाप कहते हैं – बच्चे गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र बनो। कर्म भी जरूर करना है। यह है ही कर्मयोग। कर्म-सन्यास तो नहीं हो सकता। वह समझते हैं घर में खाना नहीं बनाते, भीख पर गुज़ारा करते हैं, इसलिए कर्म सन्यासी हैं। वह तो फकीर ठहरे। अन्न तो विकारियों का पेट में पड़ता है, तो अन्नदोष लग जाता है। पतित घर से भल निकल जाते हैं फिर भी जन्म तो पतित घर में लेना पड़ता है। तुमको भी अन्न असर करेगा, इसलिए परहेज रखी जाती है। पतित का अन्न नहीं खाना चाहिए। जितना हो सके अपने को बचाते रहो। कोई का बहुत झगड़ा भी हो जाता है। एक भाई ज्ञान में आता, दूसरा नहीं आता ऐसे बहुत केस होते हैं। इतना बेहद का राज्य लेते हो तो जरूर कुछ झगड़े होंगे। कोई भी हालत में तुमको अपना बचाव रखना है। मुक्ति तो कोई पाते नहीं हैं। गपोड़े मारते रहते हैं हम ज्योति ज्योत में लीन होंगे। समझाते-समझाते आखिर उन्हों की बुद्धि में भी आयेगा कि यह बात ठीक है। सतयुग की आयु अगर लाखों वर्ष होती तो संख्या बहुत बढ़ जाती। अभी तो संख्या और ही सबसे थोड़ी है क्योंकि कनवर्ट हो गये हैं और धर्मों में। देवता धर्म वाले हैं सूर्यवंशी। राम को फिर क्षत्रिय की निशानी दे दी है। अभी तुम रूहानी क्षत्रिय हो। माया पर जीत पाते हो, इसमें समझने की बड़ी बुद्धि चाहिए। योग भी बड़ा सहज है। आत्माओं का योग लगता है परमपिता परमात्मा के साथ। योग आश्रम तो बहुत हैं परन्तु वह सब हठयोग कराते हैं। यह थोड़ेही कहते हैं परमपिता परमात्मा के साथ योग लगाओ। तुम बच्चे जानते हो – बाबा हमको दलाल के रूप में मिले हैं। कहते हैं – मामेकम् याद करो तो खाद निकल जायेगी। याद करते-करते तुम मुक्तिधाम में चले जायेंगे।

बाप बैठ समझाते हैं – बच्चे दुनिया का हाल देखो क्या हो गया है। तुम जो विश्व के मालिक थे, अब बेगर बन पड़े हो फिर बेगर टू प्रिन्स बनना है। भारत बेगर है। पतित राजायें, पावन महाराना-महारानी के मन्दिर बनाकर पूजा करते हैं। निराकार शिवबाबा की पूजा करते हैं। जरूर कुछ किया होगा। कितने मन्दिर हैं। तुम अभी जानते हो 5 हजार वर्ष पहले भी आकर राजयोग सिखाया था। तुमने अनेक बार राज्य लिया है और गँवाया है। अब फिर शान्तिधाम और सुखधाम को याद करो, दु:खधाम को भूलते जाओ। यह सब विनाश होना है। फिर तुम स्वर्ग के मालिक बन जायेंगे। बाप कहते हैं – मैं तुम्हारा बेहद का बाप भी हूँ, तुमको बेहद का वर्सा देने आया हूँ। तुम्हारी दिल में खुशी है, हम अपनी राजधानी श्रीमत पर स्थापन कर रहे हैं। परन्तु है सारा गुप्त। रावण पर जीत पानी है। गाया भी जाता है माया जीते जगत जीत। 5 विकारों पर जीत पानी है। 5 विकारों का सन्यास करना है। खिवैया तो एक बाप है। सबकी सद्गति करने वाले सतगुरू बिगर घोर अन्धियारा है। भारत में गुरू तो बहुत हैं। हर एक स्त्री का पति भी गुरू है। फिर इतनी दुर्गति क्यों हुई है? कह देते हैं सब ईश्वर के रूप हैं। हम ईश्वर हैं। फिर योग किससे लगायें? फिर तो भक्ति ही बन्द हो जाये। फिर हे भगवान कह किसको बुलाते हैं? साधना किसकी करते हैं? खुद ईश्वर थोड़ेही कभी बीमार पड़ता है। परन्तु कोई पूछने वाला नहीं है। डरते रहते हैं, श्राप न मिल जाये। वास्तव में श्राप देने वाला है रावण। बाप तो वर्सा देते हैं। रावण दुश्मन है इसलिए जलाते रहते हैं। लक्ष्मी-नारायण के चित्र को कब जलाते हैं क्या? बिल्कुल नहीं। रावण क्या चीज़ है – अभी तुमको मालूम पड़ा है। सतयुग में पावन प्रवृत्ति में सुख था। अभी पतित प्रवृत्ति में दु:ख है। अभी इसका विनाश होना है। तुम देखेंगे अर्थक्वेक आदि होती रहेंगी। बाबा भी कहाँ तक बैठ शिक्षा देंगे? लिमिट होगी ना। राजाई स्थापन होगी और विनाश होगा। अन्त में तुम बहुत मज़े देखेंगे, शुरूआत से भी जास्ती। वह तो पाकिस्तान था। अभी तो विनाश का समय है। तुमको बाबा बहुत कुछ दिखायेंगे। फिर जो अच्छी रीति नहीं पढ़े हुए होंगे वह अन्दर फथकते रहेंगे। क्या कर सकते हैं? अभी जितना पुरुषार्थ करना है कर लो, बाल-बच्चों को तो सम्भालना ही है। कायर नहीं बनना है। कदम-कदम श्रीमत पर चलना है। बाप को याद करते रहना है। बस इसमें ही मेहनत है। पापों का बोझा सिर से कैसे उतरे? उसके लिए है सहज योग। यह है ज्ञान बल, योगबल जिससे माया पर विजय पाकर विश्व के मालिक बनते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) श्रीमत पर ज्ञान और योगबल से माया पर विजय पानी है। विनाश के पहले अपने विकर्मों को विनाश करना है।

2) बेहद का राज्य लेने के लिए हर बात में अपना बचाव करते रहना है। अन्नदोष से बहुत सम्भाल करनी है।

वरदान:- व्यर्थ की अपवित्रता को समाप्त कर सम्पूर्ण स्वच्छ बनने वाले होलीहंस भव 
होलीहंस की विशेषता है – सदा ज्ञान रत्न चुगना और निर्णय शक्ति द्वारा दूध पानी को अलग करना अर्थात् व्यर्थ और समर्थ का निर्णय करना। होलीहंस अर्थात् सदा स्वच्छ। स्वच्छता अर्थात् पवित्रता, कभी भी मैलेपन का असर न हो। व्यर्थ की अपवित्रता भी नहीं, अगर व्यर्थ भी है तो सम्पूर्ण स्वच्छ नहीं कहेंगे। हर समय बुद्धि में ज्ञान रत्न चलते रहें, ज्ञान का मनन चलता रहे तो व्यर्थ नहीं चलेगा। इसको कहा जाता है रत्न चुगना।
स्लोगन:- नाँव और खिवैया मजबूत हो तो तूफान भी तोहफा बन जाते हैं।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize