brahma kumaris murli 14 august 2017

TODAY MURLI 14 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 13 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 14/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

14/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have now received the light of understanding of the beginning, the middle and the end of the entire world. Keep this knowledge in your intellects and remain constantly cheerful.
Question: Which great fortune are you children making for yourselves, and how?
Answer: By following shrimat you claim the unlimited inheritance from the Father for 21 births. By following shrimat all your desires are fulfilled. This is your great fortune. You children, who go through the cycle of 84 births, have now become Brahmins and will later become deities. An elevated fortune is made when you conquer Maya, Ravan, with the power of your intellect’s yoga and with the power of knowledge. It is in your intellects that you have come to the Father to make your fortune, that is, to claim the status of Lakshmi or Narayan.
Song: My fortune having awakened I have come.

Om shanti. This is the school of God. Here, God speaks to the children. The first line of the song is: having awakened, My fortune, I have come. I have come to this Godly school or school of the unlimited Father. Only one can be called God; there aren’t many Gods. The Father of all souls is one. This gathering here is that of a meeting between the one Father and many souls, that of the Ocean of Knowledge and the rivers of knowledge. An ocean of water cannot be called the Ocean of Knowledge. The rivers of knowledge emerge from the Ocean of Knowledge and this is their meeting. That is devotion and this is knowledge. Knowledge is called the day of Brahma: the golden and silver ages. Devotion is the night: the copper and iron ages. In the golden and silver ages there is salvation. You have to go to that land of happiness. Only the one Father grants salvation; He is the Bestower of Salvation. You are now receiving salvation, that is, you are changing from impure to pure. From tamopradhan you are becoming satopradhan by studying Raja Yoga. Only when you have become satopradhan will you go to heaven. You will later change from satopradhan to tamopradhan – this is the cycle. Bharat was heaven where there was the kingdom of Lakshmi and Narayan. Temples etc. have been built to them even up to now. They were definitely in heaven. Now it is the iron age. In the golden age the emperor and empress as well as the subjects were pure. The empress and emperor were called Lakshmi and Narayan. In their childhood they were Princess Radhe and Prince Krishna. Nowadays, people speak of Krishna Janamasthmi. Why is it called asthmi (eighth)? The essence of all the scriptures has been explained to you. There is a picture showing Brahma emerging from the navel of Vishnu. It isn’t that Vishnu sits here and explains the essence of the scriptures through Brahma. No; the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva comes from the Supreme land and takes the support of the body of Brahma and explains all the secrets. People make so much effort to perform devotion, but nothing is achieved through that. That is why God says: When your devotion is over, I come because you are then in total degradation. In the golden and silver ages you claim your fortune of the kingdom. You belong to the sun dynasty and the moon dynasty and you then continue to fall. Your intellects have to remember all of this. You children have received the light of understanding (the knowledge) of the beginning, the middle and the end of the world.This light is not in the intellect of anyone else. You understand that Shiv Baba is the highest of all and that, in the subtle region, there are Brahma, Vishnu and Shankar. In the corporeal region there is this human world. Jagadpita (World Father) and Jagadamba (World Mother) are praised in the human world, whereas only Brahma is shown in the subtle region. They say to Brahma: Salutations to the deity Brahma. Then, they say: Salutations to the deity Vishnu. Who are Brahma and Saraswati here? There is great praise of Brahma. You are the daughters of Brahma, so Prajapita (Father of People) must also definitely be here. He would not be in the subtle region. The Father has to give knowledge through Prajapita. Neither Vishnu nor Shankar can be called the Ocean of Knowledge. The Father is known as Shri Shri. He is the most elevated of all: God, the Highest on High. He creates creation. After the marriage of Shri Radhe to Shri Krishna, they become Empress Shri Lakshmi and Emperor Shri Narayan. It is their kingdom in the golden age which is called heaven. In the silver age it is the kingdom of Rama and Sita. The golden age is called heaven and it is then reduced by two degrees. You come down from 16 celestial degrees to 14 celestial degrees. After that, it is the copper age and the path of devotion begins. The Father now says: I take you children into salvation. Bharat was pure; so who made Bharat impure? It was Ravan. This is why I have to come cycle after cycle to purify the impure. You have come here to make your fortune, that is, to become the masters of the world. The Father explains: Keep it in your intellects that you were deities and that you have now become Brahmins and will again become deities. This is the game of a somersault. First, there is the topknot and above that is Shiv Baba. Then the Brahmins are created; they are adopted. The fathers of those children are limited ones, whereas that is the unlimited One. Prajapita Brahma is called the great , great grandfather. He is praised at this confluence age, the time when Shiv Baba comes and adopts Brahma, Saraswati and you children. Baba is now purifying you once again. You understand that you have come once again to claim your inheritance from the Father. We have been claiming it cycle after cycle. When the kingdom of Ravan begins, we begin to fall, that is, we change from pure to impure. It is now the kingdom of Ravan over the entire world. Everyone is experiencing sorrow; everyone is in the cottage of sorrow. In the golden age there is no question of sorrow. Today, it is Shri Krishna Janamasthmi when it is said that Shri Krishna, the eight child of Devki, took birth. Would Krishna take birth as the eighth child? Krishna takes birth in the golden age, but they have taken him into the copper age. So, that is a tall story, isn’t it? You children now understand how Shri Krishna takes 84 births. He is now in his last birth and studying. In the golden age, the parents of Krishna do not have eight children. According to the drama, all of those scriptures are already fixed. The Father now explains the essence of all the scriptures. God speaks: I teach you this knowledge. It is not a question of songs or slokhas (verses) etc. This is a study. All the scriptures etc. are the paraphernalia of the path of devotion. As soon as devotion begins, Somnath, the temple to Shiv Baba, is built. To begin with, it is unadulterated devotion of Shiv Baba. This is Shiv Baba’s unadulterated knowledge through which you become pure. It is remembered: After devotion, there is disinterest; you have disinterest in this entire old world. The old world is definitely destroyed, only then is the new one established. This is the same Mahabharat War that also took place a cycle ago. The missiles, the natural calamities and everything that took place previously will all take place again. Deities don’t ever set foot in the impure world. People invoke Mahalakshmi; every year they ask her for wealth. In that image, Lakshmi and Narayan are both shown together: Mahalakshmi is shown with four arms. She is worshipped at the time of Deepmala and the residents of Bharat beg from her every year. Those are the two forms of Vishnu. People don’t understand these things. At the moment, Prajapita Adi Dev and Jagadamba Adi Devi are here.

[wp_ad_camp_5]

 

Now, on the basis of shrimat, all of your desires are being fulfilled. You claim your fortune of the kingdom for 21 births. This Brahma is the corporeal father and Shiv Baba is the incorporeal Father. You receive your inheritance from Him. He is the Creator of heaven. You receive your inheritance for 21 births. Your fortune is so great! You also understand that those who have been around the cycle of 84 births are those who come here. They become Brahmins who later become deities. Whose birthday should you celebrate? With knowledge, you celebrate the birthdays of Lakshmi and Narayan. In their childhood they are Radhe and Krishna, so you must celebrate the birthdays of both. Why do they just celebrate Krishna’s? They have taken Krishna into the copper age. Radhe and Krishna come from separate homes. They do meet again, so both their birthdays should be celebrated together. People don’t really understand when Shri Krishna took birth. You now understand that Krishna took birth at the beginning of the golden age and that Radhe also took birth at the beginning of the golden age; there’s a difference of two to four years. For you, the birth of Shiva is the most elevated. That’s all! None but one Shiv Baba is mine! You are now becoming deities; you are becoming Lakshmi and Narayan or Rama and Sita. It has been explained why Rama and Sita are called the warriors who belong to the moon dynasty; those who fail go into the clan of the moon dynasty. This is a war with Maya. You conquer Ravan on this battlefield; there is no battle between the Pandavas and the Kauravas. You have to conquer Maya. The Father says to the souls: Remember Me alone and your sins will be absolved and you will conquer Maya. You have to conquer Maya with the power of your intellect’s yoga and the power of knowledge. Ancient yoga of Bharat is very famous; you conquer Ravan through it and claim the kingdom of heaven. You have the greatest fortune. The main thing is that you have to remember the unlimited Father and the inheritance for 21 births of constant happiness. You claim the kingdom of heaven in a second. Until their intellects recognise the Father, they will not understand. Here, there is no sage or holy man, nor does anyone read from the Gita or any other scripture like the sages do. Gandhiji also used to read the Gita and he would then chant, “Sita Rama, the Purifier”. However, God spoke the Gita. If Krishna had been the Sermonizer of the Gita, why would Rama and Sita be remembered? In fact, you are the Sitas, and Rama is incorporeal God. All the devotees call out to God: O Rama, O God, come and purify us Sitas! Then, they sing the praise of King Rama, the Lord of the Raghu clan. They just carry on with the things they hear. Why the Ganges is called the Purifier? Many go there on the path of devotion. A mela takes place there every year. They go and sit there. You sit with the Ocean of Knowledge, whereas they go and bathe in the waters. However, no one becomes pure from doing that; they have continued to become impure. You are now on the path of knowledge, so you no longer go there. This is the true confluence because souls have been separated from the Supreme Father, the Supreme Soul, for a long period of time. Who became separated from the Supreme Father, the Supreme Soul, for a long period of time? It must have been those who existed in the golden age first, and so God would definitely meet them first. They are the ones who will come first. You definitely have to study here. How would those who do not go to school listen to anything and how would they understand the deep points? Some say: We don’t have time. The Father says: This is a true income; the other is false. You earn multimillions. For all others at the moment, even if they are millionaires or billionaires, it is false wealth. Even though the Go vernment takes loans from them, everything is false. Maya is false, the body is false and the whole world is false. The Father explains: Children, I make you very wealthy. Ravan has made you so unhappy! You now have to conquer Ravan. There is no question of a battle; you cannot become the masters of the world by fighting. You become the masters of the world through the power of yoga. The Father teaches you yoga, and this one’s soul is also studying. The Father enters this one and gives you knowledge. He says: I am beyond birth and rebirth. The Father is the unlimited Father, and so He explains unlimited secrets. I tell you what Maya has been making you do. You came under the influence of the five evil spirits, so what has your state become? You were so wealthy! By incurring useless expense on the path of devotion, such has become your state! Now, after devotion, God comes and gives the kingdom of heaven. Therefore, the Father has to come to grant salvation. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become multimillionaires, earn a true income. Don’t make excuses and say that you don’t have time to study. You must definitely study every day.
  2. Stay in the unadulterated remembrance of the one Father and make the soul satopradhan. “Mine is one Shiv Baba and none other.” Make this lesson firm.
Blessing: May you be one with determination and give an experience of the canopy of protection by surrounding yourself with pure thoughts.
One pure, elevated and powerful thought of yours can perform many wonders. The bond of pure thoughts and of surrounding yourself with pure thoughts becomes a canopy of protection for weak souls and this becomes a means of safety or fortress for them. It is just that in your practising this, some battling first takes place, because waste thoughts cut off your pure thoughts. However, if you have determination and your Companion is the Father Himself, you constantly have a tilak of victory. Simply let this emerge and anything wasteful will automatically become merged.
Slogan: In order to grant a vision of your angelic form, practise remaining detached from the body.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_3]

 

Read Bk Murli 12 August 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 14 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 August 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 13 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 14/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

14/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – अभी तुम्हें सारे विश्व के आदि-मध्य-अन्त की रोशनी मिली है, तुम ज्ञान को बुद्धि में रख सदा हर्षित रहो”
प्रश्नः- अभी तुम बच्चों की बहुत जबरदस्त तकदीर बन रही है – कौन सी और कैसे?
उत्तर:- अभी तुम श्रीमत पर चल 21 जन्मों के लिए बाप से बेहद का वर्सा ले रहे हो। श्रीमत पर तुम्हारी सब मनोकामनायें पूरी हो रही हैं, यह तुम्हारी जबरदस्त तकदीर है। तुम 84 जन्म लेने वाले बच्चे ही चक्र लगाकर अभी ब्राह्मण बने हो फिर देवता बनेंगे। ऊंची तकदीर तब बनती है जब बुद्धियोग बल और ज्ञान बल से माया रावण पर जीत पाते हो। तुम्हारी बुद्धि में है कि हम बाप के पास आये हैं अपनी तकदीर बनाने अर्थात् लक्ष्मी-नारायण पद पाने।
गीत:- तकदीर जगाकर आई हूँ….

ओम् शान्ति। यह भगवान की पाठशाला है। यहाँ है ही भगवानुवाच बच्चों प्रति। गीत की पहली लाइन है तकदीर जगाकर आई हूँ – इस ईश्वरीय पाठशाला वा बेहद बाप की पाठशाला में। भगवान तो एक को ही कहा जाता है। भगवान अनेक नहीं होते हैं। सभी आत्माओं का बाप एक है। अब एक बाप और अनेक बच्चों का यह है संगठन वा मेला। ज्ञान सागर और ज्ञान नदियां। पानी के सागर को ज्ञान सागर नहीं कहेंगे। ज्ञान सागर से यह ज्ञान नदियां निकलती हैं, उनका यह मेला है। वह है भक्ति, यह है ज्ञान। ज्ञान को कहा जाता है ब्रह्मा का दिन सतयुग त्रेता और भक्ति है रात द्वापर कलियुग। सतयुग त्रेता में है ही सद्गति। सुखधाम में जाना होता है। सद्गति तो एक बाप ही करेंगे। वह है सद्गति दाता। तुम्हारी अब सद्गति हो रही है अर्थात् पतित से पावन बन रहे हो। राजयोग सीख तमोप्रधान से सतोप्रधान बन रहे हो। सतोप्रधान बनेंगे तब ही स्वर्ग में जायेंगे। फिर सतोप्रधान से तमोप्रधान में तुम कैसे आते हो – यह चक्र है ना! भारत स्वर्ग था उसमें लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। अभी तक भी मन्दिर आदि बनाते रहते हैं। सतयुग में यह थे जरूर। अभी तो कलियुग है। सतयुग में यथा महाराजा महारानी तथा प्रजा पावन थे। लक्ष्मी-नारायण को महाराजा महारानी कहा जाता है। बचपन में वह महाराजकुमार श्रीकृष्ण और महाराजकुमारी राधे थी।

आज कहते हैं कृष्ण जन्माष्टमी है। अब अष्टमी क्यों कहा है? शास्त्रों का भी जो सार है वह तुमको समझाया जाता है। चित्रों में भी दिखाते हैं विष्णु की नाभी से ब्रह्मा निकला। ऐसे नहीं विष्णु बैठ ब्रह्मा द्वारा शास्त्रों का सार समझाते हैं। नहीं, परमपिता परमात्मा शिव परमधाम से आकर ब्रह्मा तन का आधार ले तुमको यह राज़ समझाते हैं। मनुष्य इतनी मेहनत करते हैं भक्ति करते हैं, मिलता कुछ भी नहीं हैइसलिए भगवान कहते हैं – जब भक्ति पूरी होती है तब फिर मैं आता हूँ क्योंकि तुम्हारी पूरी दुर्गति हो जाती है। सतयुग त्रेता में तो तुम अपना राज्य-भाग्य पाते हो। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी फिर तुम गिरते जाते हो। यह सब बुद्धि में याद रखना है। तुम बच्चों को अब सारे विश्व के आदि मध्य अन्त की रोशनी मिली है और कोई की बुद्धि में यह रोशनी नहीं है। तुम जानते हो सबसे ऊपर है शिवबाबा। पीछे सूक्ष्मवतन में ब्रह्मा, विष्णु, शंकर, स्थूल वतन में है यह मनुष्य सृष्टि। मनुष्य सृष्टि में भी पहले-पहले जगत-अम्बा, जगतपिता नाम गाया हुआ है। सूक्ष्मवतन में सिर्फ ब्रह्मा ही दिखाते हैं। उनको कहेंगे ब्रह्मा देवताए नम:, विष्णु देवताए नम:। यहाँ जो यह ब्रह्मा सरस्वती हैं, यह कौन हैं? ब्रह्मा की बहुत महिमा है। ब्रह्मा की बेटी तो तुम भी हो। प्रजापिता तो जरूर यहाँ होगा। सूक्ष्मवतन में तो नहीं होगा। बाप को प्रजापिता द्वारा ही ज्ञान देना है। विष्णु को वा शंकर को ज्ञान सागर नहीं कहा जाता है। बाप को तो श्री श्री कहा जाता है। वह है श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ, ऊंच ते ऊंच भगवान। वह फिर रचना रचते हैं श्री राधे, श्रीकृष्ण, वह स्वयंवर बाद बनते हैं महाराजा श्री नारायण और महारानी श्री लक्ष्मी। सतयुग में उन्हों का राज्य चलता है। त्रेता में है राम सीता का राज्य। स्वर्ग सतयुग को कहा जाता है फिर दो कला कम हो जाती हैं। 16 कला से 14 कला में आ गये फिर द्वापर से भक्ति मार्ग शुरू होता है।

अभी बाप कहते हैं – तुम बच्चों को मैं सद्गति में ले जाता हूँ। भारत पावन था फिर पतित किसने बनाया? रावण ने इसलिए मुझे ही कल्प-कल्प आना पड़ता है। पतितों को आकर पावन बनाना पड़ता है। तुम यहाँ आये हो – तकदीर बनाने अर्थात् विश्व का मालिक बनने। बाप समझाते हैं यह बुद्धि में रखो – तुम ही सो देवी-देवता थे, अब ब्राह्मण बने हो फिर देवता बनेंगे। यह बाजोली है। पहले-पहले है चोटी, उसके ऊपर में है शिवबाबा फिर यह ब्राह्मणों की रचना रची, एडाप्ट किया। जैसे बाप बच्चों का पिता है वह हुए हद के पिता, यह है बेहद का। प्रजापिता ब्रह्मा को ग्रेट ग्रेट ग्रैन्ड फादर कहा जाता है। इस संगम पर उनकी महिमा है जबकि शिवबाबा आकर एडाप्ट करते हैं – ब्रह्मा-सरस्वती और तुम बच्चों को। अभी फिर तुमको पावन बना रहे हैं। तुम जानते हो हम बाप से फिर से वर्सा लेने आये हैं। कल्प-कल्प लेते आये हैं। फिर जब रावण राज्य शुरू होता है तो गिरना शुरू होता है अर्थात् पावन से पतित बनते हैं। अब सारी सृष्टि में रावण राज्य है, सब दु:खी हैं, शोकवाटिका में हैं। सतयुग में तो दु:ख की बात ही नहीं होती।

[wp_ad_camp_5]

 

आज है श्रीकृष्ण जन्माष्टमी। कहते हैं देवकी को आठवां नम्बर बच्चा श्रीकृष्ण पैदा हुआ। अब आठवां नम्बर कृष्ण जन्म लेगा क्या? कृष्ण का जन्म तो होता है सतयुग में। वह फिर उनको द्वापर में ले गये हैं। तो यह गपोड़ा हुआ ना! अब तुम बच्चे जानते हो कृष्ण कैसे 84 जन्म लेते हैं। अभी अन्तिम जन्म में पढ़ रहे हैं। सतयुग में कृष्ण के माँ बाप को 8 बच्चे तो होते नहीं हैं। यह शास्त्र भी ड्रामा अनुसार सब पहले से ही बने हुए हैं। अब बाप सभी शास्त्रों का सार समझाते हैं। भगवानुवाच – तुमको यह ज्ञान सुनाते हैं। इसमें गीत वा श्लोक आदि की बात नहीं। यह तो पढ़ाई है। बाकी यह शास्त्र आदि सब भक्ति मार्ग की सामग्री हैं। भक्ति शुरू होने से ही पहले-पहले शिवबाबा का सोमनाथ मन्दिर बनाते हैं। पहले-पहले होती है शिवबाबा की अव्यभिचारी भक्ति, और यह है शिवबाबा का अव्यभिचारी ज्ञान, जिससे तुम पावन बनते हो। भक्ति के बाद वैराग्य गाया जाता है। तुमको इस सारी पुरानी सृष्टि से वैराग्य है। पुरानी सृष्टि जरूर विनाश हो तब फिर नई स्थापन हो। यह वही महाभारत लड़ाई है, जो कल्प पहले भी हुई थी। मूसल आदि नेचुरल कैलेमिटीज जो हुई थी वह फिर होनी है। देवतायें कभी पतित दुनिया पर पैर नहीं रखते हैं। महालक्ष्मी का आवाह्न करते हैं। हर वर्ष उनसे धन मांगते हैं। लक्ष्मी-नारायण दोनों इकट्ठे हैं। महालक्ष्मी को 4 भुजा दिखाते हैं। दीपमाला पर उनकी पूजा करते हैं। हर वर्ष भारतवासी भीख मांगते हैं। यह हैं विष्णु के दो रूप। मनुष्य इन बातों को कोई जानते नहीं। इस समय है प्रजापिता आदि देव और जगत अम्बा आदि देवी। अभी श्रीमत पर तुम्हारी सब मनोकामनायें पूर्ण होती हैं। 21 जन्मों के लिए तुम राज्य-भाग्य लेते हो। यह ब्रह्मा है साकारी पिता और शिवबाबा है निराकारी पिता। वर्सा तुमको उनसे मिलना है। वह है स्वर्ग का रचयिता, तुम 21 जन्मों के लिए वर्सा पा रहे हो। कितनी जबरदस्त तकदीर है। यह भी जानते हो – आयेंगे यहाँ वही जिन्होंने 84 जन्मों का चक्र लगाया है, वही आकर ब्राह्मण बनेंगे, ब्राह्मण ही फिर देवता बनेंगे।

अभी तुम बच्चे किसकी जयन्ती मनायेंगे? तुमको लक्ष्मी-नारायण की मनानी पड़ेगी, ज्ञान सहित। वह छोटेपन में हैं राधे-कृष्ण, तो दोनों की मनानी पड़े। सिर्फ कृष्ण की क्यों? वो तो कृष्ण को द्वापर में ले गये हैं। राधे और कृष्ण तो दोनों अलग-अलग घर के हैं। फिर मिलते हैं तो दोनों की इकट्ठी मनानी चाहिए। नहीं तो समझते नहीं हैं कि कृष्ण का जन्म कब हुआ? तुम अब समझते हो कृष्ण का जन्म सतयुग आदि में हुआ था। राधे का भी सतयुग आदि में कहेंगे। करके 2-4 वर्ष का अन्तर होगा। तुम्हारे लिए सबसे सर्वोत्तम तो है शिव जयन्ती। बस मेरा तो एक शिवबाबा, दूसरा न कोई। तुम अब देवता बन रहे हो। लक्ष्मी-नारायण, राम-सीता बन रहे हो। यह भी समझाया है – राम-सीता को क्षत्रिय, चन्द्रवंशी क्यों कहा जाता है! जो नापास होते हैं वह चन्द्रवंशी घराने में आते हैं। यह है माया के साथ युद्ध। रावण पर विजय प्राप्त करते हो इस युद्ध के मैदान में। बाकी पाण्डवों कौरवों की लड़ाई है नहीं। तुमको माया पर जीत पानी है। बाप आत्माओं को कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे और माया पर जीत हो जायेगी। बुद्धियोग बल और ज्ञानबल से माया पर विजय प्राप्त करनी है। भारत का प्राचीन योगबल मशहूर है, जिससे तुम रावण पर जीत पाकर राज्य लेते हो। बड़े ते बड़ी तकदीर है ना। मुख्य बात है बेहद बाप को और 21 जन्म सदा सुख के वर्से को याद करना है। सेकेण्ड में स्वर्ग की बादशाही। जब तक बाप की पहचान बुद्धि में नहीं बैठी है तब तक समझ नहीं सकेंगे। यहाँ कोई साधू सन्त आदि नहीं हैं। न कोई गीता वा शास्त्र आदि सुनाते हैं। जैसे साधू लोग सुनाते हैं। गांधी भी गीता सुनाते थे और फिर गाते थे पतित-पावन सीताराम। अब गीता तो भगवान ने गाई। अगर गीता का भगवान कृष्ण था तो फिर राम-सीता को क्यों याद करते थे? वास्तव में सीतायें तुम हो, राम है निराकार भगवान। सभी भगत हैं, पुकारते हैं हे राम, हे भगवान आप आकर हम सीताओं को पावन बनाओ फिर रघुपति राघो राजाराम कह देते हैं! सुनी सुनाई बात को पकड़ लिया है। फिर गंगा को पतित-पावनी क्यों कहते हैं! भक्ति मार्ग में बहुत वहाँ जाते हैं। वर्ष-वर्ष मेला लगता है। वहाँ जाकर बैठते हैं। तुम बैठे हो ज्ञान सागर के पास। वह फिर पानी में जाकर स्नान करके आते हैं। पावन तो बनते नहीं, पतित ही बनते आये हैं। तुम तो अभी ज्ञान मार्ग में हो। तुम अभी वहाँ नहीं जायेंगे। सच्चा-सच्चा संगम यह है, जबकि आत्मायें परमात्मा अलग रहे बहुकाल। परमपिता परमात्मा से बहुत समय से कौन बिछुड़ते हैं? वही जो पहले-पहले सतयुग में थे, तो जरूर उनसे ही पहले भगवान मिलेंगे, पहले वही आयेंगे। यहाँ जरूर पढ़ना पड़े। जो स्कूल में ही नहीं आयेंगे तो वह क्या सुनेंगे। गुह्य-गुह्य प्वाइंट्स कैसे समझेंगे। कोई कहते हैं फुर्सत नहीं। बाप कहते हैं – यह है सच्ची कमाई, वह है झूठी। तुम तो पदमपति बनते हो। बाकी इस समय यह तो झूठी साहूकारी है। भल कितने भी लखपति, करोड़पति हैं। गवर्मेन्ट भी उनसे कर्जा लेती है। परन्तु है तो सब झूठी माया…झूठा सब संसार। बाप बैठ समझाते हैं बच्चे तुमको कितना साहूकार बनाता हूँ। अभी रावण ने तुमको कितना दु:खी बना दिया है। अब उन पर जीत पानी है। लड़ाई की कोई बात नहीं। लड़ाई से विश्व का मालिक नहीं बन सकते। तुम योगबल से विश्व का मालिक बनते हो। योग सिखलाते हैं बाप, इनकी आत्मा भी सीखती है। बाप इनमें प्रवेश हो तुमको ज्ञान सुनाते हैं। कहते हैं मैं तो जन्म-मरण रहित हूँ। बाप बेहद का बाप है। तो बेहद का राज़ समझाते हैं कि तुमसे माया ने क्या-क्या करवाया है। तुम 5 भूतों के वश होते गये हो, क्या हाल हो गया है। तुम कितने धनवान थे। भक्ति मार्ग में फालतू खर्चा करते-करते अब तुम्हारी क्या हालत हो गई है! अब भक्ति के बाद भगवान आकर स्वर्ग की बादशाही देते हैं, इसलिए सद्गति करने बाप को ही आना पड़ता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पदमापदमपति बनने के लिए सच्ची कमाई करनी है। पढ़ाई में समय का बहाना नहीं देना है। ऐसे नहीं पढ़ाई के लिए फुर्सत नहीं। रोज़ पढ़ना जरूर है।

2) एक बाप की अव्यभिचारी याद में रह आत्मा को सतोप्रधान बनाना है। मेरा तो एक शिवबाबा, दूसरा न कोई.. यही पाठ पक्का करना है।

वरदान:- शुद्ध संकल्पों के घेराव द्वारा सदा छत्रछाया की अनुभूति करने, कराने वाले दृढ़ संकल्पधारी भव 
आपका एक शुद्ध वा श्रेष्ठ शक्तिशाली संकल्प बहुत कमाल कर सकता है। शुद्ध संकल्पों का बंधन वा घेराव कमजोर आत्माओं के लिए छत्रछाया बन, सेफ्टी का साधन वा किला बन जाता है। सिर्फ इसके अभ्यास में पहले युद्ध चलती है, व्यर्थ संकल्प शुद्ध संकल्पों को कट करते हैं लेकिन यदि दृढ़ संकल्प करो तो आपका साथी स्वयं बाप है, विजय का तिलक सदा है ही सिर्फ इसको इमर्ज करो तो व्यर्थ स्वत: मर्ज हो जायेगा।
स्लोगन:- फरिश्ते स्वरूप का साक्षात्कार कराने के लिए शरीर से डिटैच रहने का अभ्यास करो।

[wp_ad_camp_3]

To Read Murli 12 August 2017 :- Click Here

 

Font Resize