bkmurli 27 october 2017

TODAY MURLI 27 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 October 2017 :- Click Here

27/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to value this study a great deal. If you are ill or even about to die, you must still sit in class. It is said that you should leave your body with the nectar of knowledge on your lips.
Question: When and how do children become instrumental in turning others away from the Father?
Answer: When those who sulk with brothers and sisters stop studying and become those who defame the Guru, many others who see them also turn away from the Father. Today, they may be studying well but, tomorrow, they stop studying and they therefore cannot tell others to study. Such children deprive themselves of a high status.
Song: The Flame has ignited in the happy gathering for the moths.

Om shanti. You children have understood the meaning of the song. Those who composed the song don’t know its meaning. They have written so many Vedas, scriptures, Upanishads etc. but not a single person knows the accurate meaning of them. Because of not knowing the accurate meaning of them, they continue to waste time and money. The Father explains: You have built many temples and written many Vedas, Upanishads etc. You have had sacrificial fires and done a lot of chanting and tapasya. You spent so much money! Who is the Father explaining all of this to? To those who have died alive and now belong to the Father. You now belong to the Father, which means that you have died alive. So, you now have to make preparations to go back with the Father. It isn’t that people will celebrate your birthday or anniversary there. Here, people celebrate the anniversary of Gandhiji with so much splendour. It isn’t that Shiv Baba will go away having given you knowledge and that you will then celebrate His birthday in the golden age; no. For half the cycle, you won’t celebrate anniversaries or hold any ceremonies for those who leave their bodies. Cows won’t be donated; departed spirits will not be fed. Donations are made so that a return is received in the next birth. However, in the golden age, you experience the reward of this time. Therefore, there is a difference between the customs and systems of devotion and the customs and systems of knowledge. Those who have broad intellects will be able to understand these things. Those who had broad intellects in the previous cycle will have broad intellects now because they have to play those same part s again. You heard in the song how you went around in all directions and how you still remained distant. The Father says: You beat your heads so much on the path of devotion, and yet you were unable to meet Me because you can only meet Me when I come. I only come at the confluence age of every cycle. People say that God comes in every age. They then say that God has 24 incarnations. Therefore, that is wrong. People call out to Me: O Purifier, come! Come and make us impure ones pure. So, your war is now with Maya, Ravan. You don’t have a physical war. You conquer Ravan. Who is the main warrior in that? Lust. So you have to conquer that vice, that is, you have to become pure. When you become pure yourselves, you also have to make your children pure so that they too can become the masters of the world. If you give them an inheritance now, what would you give them? You would only give them things of clay. OK, look at America: what is that now? It is nothing but pebbles and stones because everything is now to be destroyed. Look how people die! When there are snowstorms on the mountains, all the birds etc. die. Therefore, the storms of bombs will be same. People everywhere will continue to die like swarms of insects. You know that you will see how everyone dies. Look how many people die in a war. Death is over everyone’s head here. In the golden age, there is no fear of death because there is no untimely death there. The Father is sending you to such a world. Therefore, you should follow the shrimat of such a Father. He is the Supreme Teacher and so you children have to pay full attention to the study. There are many who don’t value the study at all. For instance, if someone is very ill and about to die, he too should be brought to class. It is said that when someone dies, he should have the nectar of knowledge on his lips, that he should be on the banks of the River Ganges etc., and then he should leave his body. So, there should be that much regard for the study. If, in desperate circumstances, you cannot take someone to class, you should make that person remember Shiv Baba at home. However, children don’t pay full attention to the study. Baba says: Bring your register , so that I can know how much each one is studying and to what extent. Baba asks if each of you is studying and whether you are also teaching others, because it is only in this business that an income is earned. All other businesses are like dust. Those brahmin priests have the scriptures under their arms whereas you have the truth. You are establishing the land of truth. You have a huge responsibility and this is why you have to remain cautious. It requires effort to study and teach others. It isn’t that you just have to study. You are those on the family path. You may do your housework for eight hours. The Government has a law that you have to work for eight hours. In earlier days, when the steamers used to arrive at night, shopkeepers would keep their shops open all night. You have to become free from your housework and engage yourselves in this service. The Government itself teaches you how to do service. The Government feeds people, so people also have to serve it. Here, too, the Father teaches you and so you have to do Godly Service. It isn’t only service. If it were only service, that would be a matter of the intellect to make the self pure. However, we have to make Bharat into heaven. So you have a huge responsibility, just as the other army has a responsibility. The Commander in Chief, the c aptain s etc. have the most responsibility. It is the same here. The good children who open centres are the commanders and so they have a responsibility. So, each of you has to look at yourself and see whether, instead of doing service, you are doing disservice. There are many children who sulk with brothers and sisters and then stop studying. They don’t understand that, by stopping their study, they will be those who defame the Guru and won’t be able to attain a high status, that is, they won’t be able to claim a high status in the golden age. The Father asks for the register of the children because He understands everything from that, just as in a school the father and teacher understand everything from the register how much the child is studying. Some children continue to play throughout the day, and then, when school finishes, they go back home and say that they have just been to school to study. The parents of some children don’t even look at the register of their children, and so they aren’t aware of anything. Some parents pay attention so that the children study well. Here, Shiv Baba is Antaryami (the One who knows everything inside you). The register has to be shown to the corporeal one. Children say: Baba, such storms come! Baba says: These storms will come. All of these storms first come to me otherwise how could I explain them to you children if I haven’t experienced them? OK, Maya distressed you the whole night and you weren’t even able to sleep. That was time wasted. That is also her duty; she will definitely create conflict. However, it is your duty to remember Baba just as much and chase Maya away. Some children are such that they leave when even a little Maya comes to them. Herbalists say that when you take a particular medicine, there will be a reaction to the illness. However, some people are such that when the illness reacts even slightly to the medicine of a particular herbalist, they would leave him and go to another. It is the same here: they leave knowledge and go to the sages and holy men. Then they say: Everyone else says that you have to live at home with the family and get married whereas you tell us to get married but remain pure. What kind of difficulty is this? Oh! but you are saying that you want to live at home and claim liberation and liberation-in-life like King Janak. Therefore, you have to remain pure at home. Some say that this is right, but that the destination is too high; they say this and become afraid. You have to go high. It is also shown in the Dilwala Temple how you are doing tapasya down below and how there is the reward of heaven above you. Therefore, the destination is high anyway. It is said: When you climb, you taste the sweetness of love, that is, the sweetness of heaven. If you fall, you are completely crushed. This is why you have to move along with great caution; you mustn’t be afraid. They say that this is the authority of the Gita. There are many Gitas nowadays. There is the Tagore Gita, the Gandhi Gita, etc. Whoever sulks with members of their home go and extract a meaning from the Gita and write it with their name. In one Gita, it is written: This will happen if you eat aubergines. This will happen if you eat ladies’ fingers (okra vegetable). Baba also used to study the Gita every day. Wherever he went, even if he went to a king, he definitely used to study the Gita before going. Some people think that devotees do not cheat. However, no one cheats as much as devotees do. Therefore, Baba says: Children, don’t stop studying! Otherwise, Maya, the alligator, will eat you and you will then have to repent. In the land of Dharamraj, when you have visions of each and every birth and experience punishment, don’t even ask what it’s like! No human being knows about liberation or liberation-in-life because they believe that happiness is like the droppings of a crow. So they believe that the happiness of heaven will also be like that because they have heard that Rama’s Sita was abducted in the silver age, and so that too is sorrow. You now understand that such things don’t take place in heaven. This is a story of just Bharat. All other religions are just by-plots in this drama. It is the people of Bharat who take 84 births. Those of other religions do not take 84 births. It is said: Souls remained separated from the Supreme Soul for a long period of time. No one knows the meaning of that. They continue to sing that, but they don’t understand anything. This Brahma was also a beggar. He also adopted many gurus, but all of that was cheating. This is why the Father says: Renounce all religions. However, people don’t understand the meaning of that. Although people read the Gita, they are like wild parrots. You are those who learn everything and will be threaded in the rosary of victory. What do the people of the world know of these things? If you give them literature, they just throw it away. What do those people know about these jewels of knowledge? You children, who belonged to the deity religion in the previous cycle, have now become Brahmins. Those who become deities now will become deities every cycle, numberwise, according to the effort they make now. Others cannot become deities. The sapling is being planted. That Government plants sapling s of thorns. Here, the Pandava Government is planting the sapling of the deity religion. There is so much difference! This old world will be destroyed when the sapling of the deity religion has been planted. You can see the signs of destruction, of how the war between the Yavanas and the Kauravas is to take place according to the dramaNothing new ! It is not anything new. Why else would it be said that rivers of blood will flow? The Hindus will not fight among themselves. This is the war of the Yavanas and the Kauravas and we are also at war. We are at war! There, too, the commander continues to make sure that the war is continuing well and whether there are any traitors. There is severe punishment for traitors. It is the same here. If someone belongs to the Father and then becomes a traitor, he receives severe punishment in the land of Dharamraj. Children have also had visions. When someone sacrifices himself at Kashi, he experiences punishment for the sins of many births. Then, in his next birth, he begins to perform actions anew. No one can go into liberation. They say that so-and-so went beyond to the land of nirvana. However, no one can go there. They call out to the Father: Purifier, come! The Bestower of Salvation for All is only the One. This is something to be understood. When the Father comes, He grants salvation and liberation to many. God has now issued an ordinance to become pure. People ask: How would the world then continue? Oh, but you are saying that there isn’t enough to eat and that there should be fewer people and then you ask how the world would continue! You children have to explain very well. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While looking after your household, you still definitely have to make time to do spiritual service. Consider yourself to be responsible for increasing service. Don’t do any disservice.
  2. The One who is teaching you is the Supreme Teacher Himself. Therefore, you definitely have to value this study a great deal. Under no circumstances should you miss this study.
Blessing: May you be full of the eight powers and make your stage elevated according to the time and the situation.
The children who are full of the eight powers use every power according to the time and the situation in every action. The eight powers make them one of the eight and a specially beloved deity. Souls who are full of the eight powers easily make their stage according to the time and the situation. Success is merged in their every step. No situation can bring them down from their elevated stage.
Slogan: “Whatever actions I perform, others who see me will do the same”. Constantly keep this slogan in your awareness and your actions will be elevated.

 

Read Murli 25 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 26 October 2017 :- Click Here
[Web-Dorado_Zoom]
27/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें पढ़ाई का बहुत कदर रखना है। बीमार हो, मरने पर भी हो तो भी क्लास में बैठो, कहा जाता ज्ञान अमृत मुख में हो तब प्राण तन से निकले”
प्रश्नः- कई बच्चे भी बाप से बेमुख करने के निमित्त बन जाते हैं – कब और कैसे?
उत्तर:- जो आपस में भाई-बहनों से रूठकर पढ़ाई छोड़ देते हैं और गुरू के निंदक बन जाते हैं, उन्हें देख अनेक बाप से बेमुख हो जाते। आज अच्छा पढ़ते कल पढ़ाई छोड़ देते तो दूसरों को कह न सकें कि तुम पढ़ो। ऐसे बच्चे ऊंच पद से वंचित हो जाते हैं।
गीत:- महफिल में जल उठी शमा….

ओम् शान्ति। गीत का अर्थ बच्चों ने समझा – जिन्होंने यह गीत बनाया है, वह उनका अर्थ नहीं जानते। देखो कितने वेद, शास्त्र, उपनिषद बनाये हैं, परन्तु एक भी यथार्थ अर्थ को नहीं जानते। यथार्थ अर्थ न जानने के कारण वेस्ट आफ टाइम, वेस्ट आफ मनी करते हैं। बाप समझाते हैं तुमने बहुत-बहुत मन्दिर, वेद, उपनिषद आदि बनाये हैं। यज्ञ-जप-तप किये हैं। कितना पैसा खर्च किया है। यह बाप किसको समझाते हैं, जो जीते जी मरकर बाप के बनते हैं। तो तुम बाप के बने हो तो गोया जीते जी मरे हुए हो। तो अब बाप के साथ चलने की तैयारी करनी है। यह नहीं कि वहाँ तुम्हारी कोई बर्थ डे या बरसी आदि मनायेंगे। यहाँ गाँधी की कितने धूमधाम से मनाते हैं। ऐसे नहीं कि शिवबाबा ज्ञान देकर चला जायेगा तो फिर तुम सतयुग में उनकी जयन्ती मनायेंगे, नहीं। आधाकल्प जो भी शरीर छोड़ेंगे तो उनकी बरसी, क्रियाक्रम नहीं करेंगे। गऊदान करना, पित्रों को खिलाना, आदि नहीं होगा क्योंकि दान किया जाता है कि दूसरे जन्म में मिले। सतयुग में तुम इस समय की प्रालब्ध खाते हो। तो भक्ति की रसम-रिवाज और ज्ञान की रसम-रिवाज में अन्तर है। जो भी विशालबुद्धि वाले हैं वह इन बातों को समझेंगे और जो कल्प पहले विशालबुद्धि बने होंगे वही अब बनेंगे क्योंकि फिर से वही पार्ट बजाना है।

गीत सुना चारों तरफ लगाये फेरे.. फिर भी हरदम दूर रहे.. बाप कहते हैं तुमने भक्ति मार्ग में कितना माथा मारा है फिर भी मुझसे मिल न सके क्योंकि जब मैं आऊं तब तो मुझे मिल सको। मैं आता ही हूँ कल्प-कल्प संगमयुग पर। लोग कह देते हैं कि परमात्मा युगे-युगे आता है। फिर कहते हैं परमात्मा के 24 अवतार हैं। तो यह रांग है ना। मुझे बुलाते हैं कि पतित-पावन आओ, आकर पतितों को पावन बनाओ। तो अब तुम्हारी युद्ध है माया रावण से। तुम्हारी कोई स्थूल युद्ध नहीं है। तुम रावण पर जीत पाते हो। उसमें भी मुख्य योद्धा कौन है? काम। तो इस विकार पर जीत पानी है अर्थात् पवित्र बनना है। जब खुद पवित्र बनते हो तो बच्चों को भी पवित्र बनाना पड़े, ताकि वह भी विश्व के मालिक बन जायें। अगर अभी तुम उन्हों को वर्सा देंगे तो क्या देंगे? ठिक्कर ठोबर देंगे। अच्छा देखो – अमेरिका है, वह क्या है? ठिक्कर ठोबर है क्योंकि अब सब खत्म होना है। अब देखो मरेंगे कैसे? जैसे पहाड़ों पर जब बर्फ का तूफान आता है तो पंछी आदि सब खत्म हो जाते हैं। तो यह बाम्बस के तूफान भी ऐसे हैं। एकदम मरते रहेंगे मच्छरों सदृश्य। तुम जानते हो कि हम देखेंगे कि कैसे सब मर रहे हैं। लड़ाई में देखो कितने मरते हैं। यहाँ मौत सबके सिर पर है। सतयुग में मौत का भी डर नहीं क्योंकि वहाँ अकाले मृत्यु नहीं होता। तो बाप ऐसी दुनिया में ले जाते हैं। तो ऐसे बाप की श्रीमत पर चलना चाहिए। यह सुप्रीम टीचर भी है, तो बच्चों को पढ़ाई पर पूरा ध्यान देना चाहिए। बहुत हैं जिनको पढ़ाई का कदर नहीं है। समझो कोई सख्त बीमार है, मरने पर है, उसको भी क्लास में ले आना चाहिए। कहते हैं ज्ञान अमृत मुख में हो, गंगा का तट हो…. तब प्राण तन से निकले। तो पढ़ाई का इतना कदर होना चाहिए। अगर लाचारी हालत में क्लास में नहीं ले जा सकते हो तो उनको घर में भी शिवबाबा याद कराना चाहिए। परन्तु पढ़ाई पर बच्चों का पूरा ध्यान नहीं है। बाबा कहते हैं रजिस्टर ले आओ तो मुझे मालूम पड़ेगा कि कहाँ तक कौन पढ़ता है, और बाबा पूछते भी हैं यह खुद पढ़ता औरों को पढ़ाता है? क्योंकि इसी धन्धे में ही कमाई है। बाकी सब धन्धों में है धूल। उन ब्राह्मणों के कच्छ में है कुरम, तुम्हारे पास है सच। तुम सचखण्ड की स्थापना कर रहे हो। तुम्हारे ऊपर बड़ी जवाबदारी है, इसलिए खबरदारी रखनी है। मेहनत है, पढ़ना और पढ़ाना है। ऐसे नहीं सिर्फ पढ़ना है। तुम प्रवृत्ति मार्ग वाले हो, 8 घण्टा भल घर का काम करो। गवर्मेन्ट भी कायदा निकालती है कि 8 घण्टा काम करो। आगे तो जब स्टीम्बर बाहर से रात को आते थे तो सारी-सारी रात भी दुकान खोलकर काम करते थे। तुमको भी घर के काम से फारिग हो फिर इस सर्विस में लग जाना है। सर्विस करना गवर्मेन्ट खुद सिखलाती है। खिलाती, पिलाती है तो उनकी सर्विस भी करते हैं। यहाँ भी तुमको बाप सिखलाते हैं तो तुमको आन गॉडली सर्विस करनी है। सिर्फ ओनली सर्विस नहीं। ओनली हो गई सिर्फ अपनी बुद्धि की, खुद को पवित्र बनाना। परन्तु हमको तो भारत को स्वर्ग बनाना है। तो तुम्हारे ऊपर बहुत जिम्मेवारी है। जैसे उस सेना पर जिम्मेवारी रहती है। चीफ कमान्डर, कैप्टन आदि पर अधिक जवाबदारी रहती है। यहाँ भी ऐसे हैं। जो अच्छे-अच्छे बच्चे सेन्टर खोलते हैं वह हो गये कमान्डर। तो उन पर जवाबदारी है। तो यह हर एक को देखना है कि हम सर्विस के बजाए कहाँ डिससर्विस तो नहीं करते हैं। बहुत बच्चे हैं जो भाई-बहिनों से रूठकर पढ़ाई छोड़ देते हैं। यह नहीं समझते कि पढ़ाई छोड़ने से गुरू के निंदक ठौर नहीं पा सकेंगे अर्थात् सतयुग में ऊंच पद नहीं मिलेगा। यहाँ बाप बच्चों का रजिस्टर मंगाते हैं, उससे समझ जाते हैं। जैसे स्कूल में बाप, टीचर रजिस्टर से समझ जाते हैं कि यह बच्चा कहाँ तक पढ़ता होगा! कई बच्चे होते हैं जो सारा दिन खेलते रहते हैं और छुट्टी के टाइम पर घर आ जाते हैं कि हम पढ़कर आये हैं। किन्हों के माँ बाप तो रजिस्टर भी नहीं देखते, तो उन्हों को मालूम भी नहीं पड़ता। किन्हों के माँ-बाप ध्यान में रखते हैं तो बच्चा अच्छी तरह पढ़ जाये। यहाँ शिवबाबा अन्तर्यामी है। साकार को रजिस्टर दिखाना पड़े। बच्चे कहते हैं बाबा ऐसे तूफान आते हैं। बाबा कह देते हैं कि यह तूफान तो आयेंगे। यह सब तूफान पहले मेरे पास ही आते हैं क्योंकि जब तक इनको अनुभव न हो तो बच्चों को कैसे समझा सकें। अच्छा तुमको माया ने सारी रात हैरान किया, नींद भी नहीं करने दी, टाइम भी वेस्ट किया! यह भी उनका फर्ज है, टकरायेगी जरूर। बाकी तुम्हारा काम है बाप को इतना ही याद कर माया को भगाना। कई बच्चे हैं जो थोड़ी भी माया आती है तो चले जाते हैं, जैसे वैद्य लोग कह देते हैं यह दवाई लेने से बीमारी उथलेगी। परन्तु कई लोग ऐसे होते हैं जो जरा सी बीमारी ने उथल खाई तो उस वैद्य को छोड़ दूसरे के पास चले जाते हैं। यहाँ भी ऐसे हैं। ज्ञान को छोड़ साधू सन्तों के पास चले जाते हैं। फिर कहते हैं कि सब तो कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहो, शादी करो। आप कहते हो शादी करके पवित्र रहो। यह फिर कौन सी मुसीबत है! अरे तुम कहते हो हमको गृहस्थ व्यवहार में रह राजा जनक के मुआफिक जीवनमुक्ति चाहिए, तो फिर प्रवृत्ति में पवित्र रहना पड़े। कई फिर कह देते बात तो ठीक है। बाकी मंजिल ऊंची है। ऐसा कह डर जाते हैं। ऊंच तो जाना ही है ना। देलवाड़ा मन्दिर में भी है कि नीचे तपस्या कर रहे हैं, ऊपर में उनकी प्रालब्ध स्वर्ग है। तो ऊंच मंजिल तो है ही। कहते हैं ना कि चढ़े तो चाखे प्रेम रस… यानी बैकुण्ठ रस, गिरे तो चकनाचूर, इसलिए बड़ी सावधानी से चलना पड़ता है। डरना नहीं है।

कहते हैं यह गीता की अथॉरिटी है। गीतायें तो आजकल बहुत हैं। टैगोर गीता, गाँधी गीता आदि… आजकल जो घर से रूठते वह गीता का अर्थ कर देते और अपना नाम डाल देते हैं। एक गीता में लिखा है कि बैगन खाने से यह होगा, भिण्डी खाने से यह होगा….. यह बाबा भी रोज़ गीता का पाठ करते थे। जहाँ भी जाते थे, राजाओं के पास भी जाते थे तो गीता का पाठ जरूर करते थे। मनुष्य समझते हैं भगत ठगत नहीं होते। परन्तु जितना भगत ठगते हैं, उतना कोई नहीं। तो बाबा कहते हैं – बच्चे पढ़ाई को नहीं छोड़ना। नहीं तो माया अजगर खा जायेगी फिर पछताना पड़ेगा। जब धर्मराजपुरी में एक-एक जन्म का साक्षात्कार करते सजायें खाते हैं तो बात मत पूछो। मुक्ति और जीवनमुक्ति को तो कोई मनुष्य जानते ही नहीं क्योंकि वह समझते हैं कि सुख काग विष्टा समान है। तो समझते हैं कि स्वर्ग के सुख भी ऐसे होंगे क्योंकि सुना है कि त्रेतायुग में भी सीता चुराई गई तो वह भी दु:ख है। अब तुम जानते हो कि स्वर्ग में ऐसी बातें होती नहीं। यह भारत की ही कहानी है। बाकी और धर्म वाले इस ड्रामा के अन्दर बाईप्लाट हैं। भारतवासियों के ही 84 जन्म हैं और धर्म वाले तो 84 जन्म नहीं लेते। कहते हैं आत्मा परमात्मा अलग रहे बहुकाल.. अब इस अर्थ को नहीं जानते हैं। गाते ही रहते हैं, जानते तो कुछ भी नहीं। यह ब्रह्मा भी बेगर था ना, इसने भी बहुत गुरू किये हुए थे। परन्तु है सब ठगी। तब तो बाप कहते हैं ना सर्व धर्मानि परितज्य… वह इसका अर्थ थोड़ेही जानते हैं। भल गीता पढ़ते हैं परन्तु जैसे जंगली तोते। तुम कण्ठी वाले बन विजय माला में पिरो जायेंगे। दुनिया वाले इन बातों को क्या जानें। उन्हों को अगर तुम लिटरेचर दो तो फेंक देते हैं। वे लोग क्या जाने ज्ञान रत्नों को। तुम बच्चे जो कल्प पहले देवता धर्म के थे, अब वही ब्राह्मण बने हो। जो अब देवता बनेंगे वही कल्प-कल्प नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार देवता बनेंगे और तो देवता बन न सकें। यह सैपलिंग लग रहा है ना। वह गवर्मेन्ट तो कांटों का सैपलिंग लगाती है। यहाँ पाण्डव गवमेन्ट देवता धर्म की सैपलिंग लगाते हैं। कितना फ़र्क है। जब देवता धर्म का सैपलिंग पूरा होगा तब ही इस पुरानी दुनिया का विनाश होगा। तो विनाश के आसार तुम देख ही रहे हो कि कैसे यौवनों और कौरवों की लड़ाई लगनी है, ड्रामानुसार, नथिंगन्यु। कोई नई बात नहीं है। नहीं तो क्यों कहा कि रक्त की नदियां बहेंगी। कोई हिन्दू थोड़ेही आपस में लड़ेंगे। यह वार ही है यौवनों और कौरवों की और हम भी इस युद्ध पर हैं। वी आर एट वार। जैसे वहाँ भी कमान्डर देखते रहते हैं ना कि लड़ाई ठीक तरह चल रही है वा नहीं। कोई ट्रेटर तो नहीं है! ट्रेटर के लिए बड़ी भारी सजा होती है। तो यहाँ भी ऐसे हैं। अगर कोई बाप का बनकर ट्रेटर बन जाते हैं तो धर्मराजपुरी में बहुत भारी सजा मिलती है। बच्चों ने साक्षात्कार भी किया है। जब काशी कलवट खाते हैं, बलि चढ़ते हैं तो उस समय अनेक जन्म के पापों की सजा भोगते हैं। फिर दूसरे जन्म में नयेसिर से कर्म शुरू करते हैं। मुक्ति में तो कोई जाते नहीं। कहते हैं फलाना पार निर्वाण गया। परन्तु जाता तो कोई भी नहीं। बाप को बुलाते हैं – पतित-पावन आओ। सर्व का सद्गति दाता एक ही है। यह तो समझ की बात है ना। बाप आते हैं तो कईयों को गति सद्गति दे जाते हैं। परमात्मा ने अब आर्डीनेन्स निकाला है कि पवित्र बनो। कहते हैं कि दुनिया कैसे चलेगी। अरे तुम कहते हो खाने के लिए नहीं है, प्रजा कम होनी चाहिए फिर कहते हो दुनिया कैसे चलेगी! तुम बच्चों को अच्छी रीति समझाना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) घर का काम करते भी समय निकाल रूहानी सेवा जरूर करनी है। अपने को सर्विस बढ़ाने का जिम्मेवार समझना है। डिससर्विस नहीं करनी है।

2) पढ़ाने वाला स्वयं सुप्रीम टीचर है इसलिए पढ़ाई का बहुत-बहुत कदर रखना है। किसी भी हालत में पढाई मिस नहीं करनी है।

वरदान:- समय और परिस्थिति प्रमाण अपनी श्रेष्ठ स्थिति बनाने वाले अष्ट शक्ति सम्पन्न भव 
जो बच्चे अष्ट शक्तियों से सम्पन्न हैं वो हर कर्म में समय प्रमाण, परिस्थिति प्रमाण, हर शक्ति को कार्य में लगाते हैं। उन्हें अष्ट शक्तियां इष्ट और अष्ट रत्न बना देती हैं। ऐसे अष्ट शक्ति सम्पन्न आत्मायें जैसा समय, जैसी परिस्थिति वैसी स्थिति सहज बना लेती हैं। उनके हर कदम में सफलता समाई रहती है। कोई भी परिस्थिति उन्हें श्रेष्ठ स्थिति से नीचे नहीं उतार सकती।
स्लोगन:- ”जो कर्म हम करेंगे हमें देख और करेंगे” – यह स्लोगन सदा स्मृति में रहे तो कर्म श्रेष्ठ हो जायेंगे।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 25 October 2017 :- Click Here
Font Resize