bkmurli 27 november 2017

TODAY MURLI 27 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 November 2017 :- Click Here

27/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father’s directions and advice for bringing about liberation and salvation are unique and this is why it is sung: Only You know Your ways and means. He Himself gives you His directions.
Question: Who have the right to be called Brahma Kumars and Kumaris? What is their nature like?
Answer: Those who are sweet and loving like the Father, who never have any conflict of opinion, have the right to be called Brahma Kumars and Kumaris. The nature of a BK should be very, very sweet. There shouldn’t be the slightest bitterness or body consciousness inside.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. The unlimited Father explains to all the lights of His eyes at all the centres. The children at the centres will be able to hear and understand what the Father explains. Look, in this world, everyone has dislike for everyone. There are people from so many religions; they all fight and quarrel with one another. This is Ravan’s kingdom. It is now to end. People don’t know this and they continue to call out: O Purifier, Remover of Sorrow and Bestower of Happiness, o Liberator, come! Everyone has sorrow. The intellect says: This place cannot be called heaven. Everyone remembers heaven. So, it is surely now hell. There definitely was the new world.After that peace, the world of happiness will definitely come. There, there won’t be any name or trace of this land of sorrow. There is now no name or trace of happiness or peace. Five thousand years ago, there was the land of happiness. All the rest of the souls resided in the land of peace. You understand this now because the Supreme Father, the Supreme Soul, has explained it to you. It is said: May God give you sense! They wouldn’t say: Brahma, Vishnu, Shankar – give us good sense! They mention the name of God alone. So, there definitely is that one Being. Only at this time must God have given His directions and He must have given them by coming here into a corporeal form. It is written that shrimat are the versions of God, but they have put Krishna’s name. In fact, they are the directions of incorporeal God. Therefore, the new world must definitely have been established. God did not go around the whole world. Neither can the whole world come to God, nor can He go to everyone. Not everyone can come personally in front of God. There are so many human beings! When an eminent person comes, not everyone would be able to see him. The Father comes and gives liberation and salvation to all of those human souls. The land of peace is separate from the land of happiness. There isn’t any peacelessness in the land of happiness. Then, in the land of sorrow, there isn’t any peace. The Father explains all of these things. They are not mentioned in any of the scriptures. God is called knowledge-full He knows everything. His directions for liberation and salvation are unique. It is sung: O God, only You know Your ways and means! We can only know them when You tell us. Therefore, He surely has to come here. How else would He grant salvation? He is the Bestower of Salvation and the Father of all. All are brothers, they are not all fathers. This is something to be understood. However, they have accepted whatever those with devilish dictates have told them. All are subservient to devilish dictates. You now have so much enlightenment. Even Lakshmi and Narayan, who attained such great salvation, didn’t have this knowledge. The Father is Trikaldarshi and you attained that kingdom from Him. Whom does the Father come and make trikaldarshi? He surely makes the children that. He teaches the real children and others would learn from them. Brahma is the Father’s child and you Brahmins are the children of Brahma. “The children of Vishnu or Shankar” is not said. Prajapita Brahma is remembered. So, this Brahma is a father and Shiva is also the Father; both are fathers. The world would surely be created through Brahma. It is remembered that Brahmins were created through Brahma. There are now innumerable religions of human beings, but at one time there was one religion of human beings. This refers to human beings; it cannot refer to animals. Baba has explained: The first question to ask them is: Who is the Purifier? Is it the Supreme Father, the Supreme Soul, or is it the water of the Ganges? Make a decision! They will then be liberated from wandering to the melas etc. They say: “Purifier!” and so their intellects go upwards. By saying that the Ganges is the Purifier, their intellects go to water. They have heard of the nectar of knowledge and so they consider the water of the Ganges to be nectar. Therefore, this is a most important question. Baba tells you many methods, but you should at least remember some of them! Children write that many people were impressed. However, nothing sits in their intellects. They just understand that the Brahma Kumaris show a very good path. As soon as they go back home, everything ends. This is why, when people come to the exhibitions, you should explain each thing clearly and make them write it down. Hundreds of people come, but not even one thing sits in anyone’s intellect. Baba doesn’t receive news that you gave lectures on these main topics. This is a school. Therefore, when a teacher asks a question, students have to reply. If you asked them as a teacher, they would reply to you. Children become very happy. You children also explain about the stages of ascent and descent. Some went into liberation and others went into liberation-in-life, and so everyone benefited. It was the stage of ascent for everyone. The satopradhan people who were in the golden age definitely had to come down to the tamopradhan stage. Therefore, you should also show that there is the stage of descent from the copper age. You have a slide about the stage of ascent and the stage of descent, but children don’t explain that. You should ask them everything. This is a study and so you should sit there as a teacher. However, if you give a lecture and become a stage secretary, that is common. Here, you have to ask everything. Is the Bestower of Salvation, the Purifier Father, One or is He omnipresent? If He is omnipresent, then tell me, how can He be the Father? Is the God of the Gita, the Purifier, the Ocean of Knowledge, or is it Shri Krishna? Whom would you call God? It would surely be the incorporeal One. It was because of this that the Gita was falsified. When the Gita, the mother and father, become false, all the scriptures also become false. You can prove to them that the whole world is false. All have stone intellects. Those with divine intellects only exist in the golden age. It is because all now have stone intellects that Baba comes and makes them into those with divine intellects. Now that it is the end of the world, those who had divine intellects have become those with stone intellects. We cannot say of the middle period that we have degraded intellects or that we are tamopradhan. Everyone becomes tamopradhan by the end. When Christianity came, it couldn’t be said that they were tamoguni; no. They too have to pass through the stages of sato, rajo and tamo. At this time, the whole tree has reached a state of total decay and has to be destroyed. You have to give a very good lecture on this. You mustn’t just say whatever comes into your mind. Write this riddle in big writing so that everyone can read it: Is the God of the Gita, the One who is free from rebirth, the Ocean of Knowledge, the Supreme Father, the Supreme Soul, or is it Shri Krishna? God created the Gita and purified the impure. People remember Him. The Krishna soul is now becoming pure. You don’t take up this topic. Many people have a dialogue about the five vices. You should do service at a fast speed. Some consider themselves to be very clever, but you should think about how you can become clever. As yet, you are still weak. You have to give individual invitations to all the merchants and those of all the different religions. The Ramakrishna Society is big. Harijans (untouchables) also have an association. Give an invitation to their leaders and invite them here. There should be someone who does this type of work and remains occupied with that. You have to discuss this among yourselves. The Father gives you shrimat. You have to take up this main subject in the probe. You mothers should challenge others very well and not become weak. However, some Brahmins too are not able to get on with one another. Because of some difference of opinion, they don’t even speak to one another! They have a lot of body consciousness. You have to become worthy of going to the kingdom of Rama. That is God’s kingdom. Those with a devilish nature cannot stay there. They don’t even have the right to be called BKs. The Father is so sweet and lovely and so you should become like the Father. Some children become so bitter. The Father says: Such ones are like wild thorns. You should question them about everything individually and then make them write it down. Is the Supreme Soul or the Ganges the Purifier? Is the Bestower of Salvation for All the Supreme Soul or the water of the Ganges? You should make such pictures. You can also have such riddles in the projectors. Now judge for yourself who the God of the Gita is! The Father gives you directions. First of all, prove the main thing. If you know Alpha, you will come to know everything. By knowing the Seed you will come to know the tree. You children have to make a lot of effort. People just say that the BKs are doing very good service. Therefore, people should take benefit from that, but not a single person comes. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Discuss among yourselves how to do service at a fast speed. Never have any conflict of opinion.
  2. Become a teacher and give everyone the recognition of Alpha. Explain to everyone the significance of the stages of ascent and descent. Ask everyone riddles of knowledge and prove the truth.
Blessing: May you be constantly powerful and finish the stage of being under an external influence with the awareness of being a master.
The thoughts of those who are constantly stable in the awareness of being a master are always in order. The mind cannot influence its master. A Brahmin soul can never be under the influence of his own weak nature or sanskars. When you think of the word “nature” (swabhav), it means soul-conscious feelings (bhav) for the self (swa) and others. Stabilise yourself in this elevated meaning and then, when you think of the word “sanskar”, bring your original and eternal sanskars into your awareness and you will become powerful. The stage of being under any external influence will finish.
Slogan: Accumulate the power of blessings and any fire, in the form of situations, will become like water.

*** Om Shanti ***

Invaluable versions of Mateshwari

1) To chant “om” means to continue to chant the mantra of “om”. When we use the word “om”, it does not mean that we have to speak out loudly the word “om”. There cannot be any benefit in life simply by saying “om”, but we do have to stabilise ourselves in the meaning of the word “om”. By knowing the meaning of the word “om”, people are able to attain that peace. People definitely want to have peace. They have many conferences to establish that peace, but the result seen of those is that there are more reasons for peacelessness and sorrow; the main reason is that, until human souls have destroyed the five vices, there can never be peace in the world. So, people first have to control their five vices and connect the string of their lives to God, for only then will peace be established. So, people should ask themselves: Have I destroyed my five vices? Have I tried to conquer them? If people ask how they can control their five vices, they are shown this method: they first have to be given the incense of knowledge and yoga. Together with that, God’s elevated versions are: Connect the yoga of your intellect to Me, take power from Me, and remember Me, Prabhu, the Almighty Authority, and the vices will then continue to be removed. There now has to be this much spiritual endeavour. God Himself comes and teachers us this.

2) Only God knows the ways and means to attain salvation from God.

“Only You know Your ways and means”. In whose memorial do they sing this praise? God alone knows His ways of granting salvation. People do not know. People simply want to have peace at all times, but how can they find that peace? Until people burn their five vices and make their actions neutral, they cannot receive that happiness because the philosophy of action, neural action and sinful action is very deep and no human being can know this method. Only God knows them. Until God comes and speaks about that liberation, not until then can people receive liberation-in-life. This is why people say: Only You know Your ways and means, that God has the directions to grant salvation to someone. How do you make your actions neutral? It is God’s duty to give these teachings, but human beings don’t even have this knowledge due to which they continue to perform wrong actions. The first duty of human beings is to reform their actions, for only then will they be able to take the full benefit of a human life. Achcha.

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 26 November 2017 :- Click Here
27/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप की गति सद्गति करने की मत वा राय सबसे न्यारी है, इसलिए गाते हैं तेरी गत मत तुम ही जानो, वह स्वयं अपनी मत देते हैं
प्रश्नः- ब्रह्माकुमार कुमारी कहलाने के अधिकारी कौन? उनका स्वभाव कैसा होगा?
उत्तर:- जो बाप समान मीठे और प्यारे हैं, जो कभी मतभेद में नहीं आते, वही ब्रह्माकुमार कुमारी कहलाने के अधिकारी हैं। बी.के. का स्वभाव बहुत-बहुत मीठा होना चाहिए। अन्दर जरा भी कडुवापन अथवा देह-अभिमान न हो।
गीत:- ओम् नमो शिवाए…

ओम् शान्ति। सब सेन्टर्स के नूरे रत्नों को बेहद का बाप समझा रहे हैं, सेन्टर्स वाले बच्चे समझेंगे और सुन सकेंगे कि बाप क्या समझाते हैं। देखो, इस दुनिया में हर एक को हर एक के लिए ऩफरत है। गोरों को कालों के लिए ऩफरत है। समझते हैं यह हमारे गांव से निकल जायें इतनी ऩफरत आती है। इतने धर्म वाले हैं, सब एक दो से लड़ते झगड़ते रहते हैं। यह है ही रावण का राज्य, उनका अब अन्त है। मनुष्य तो जानते नहीं, पुकारते रहते हैं कि हे पतित-पावन, दु:ख हर्ता सुख कर्ता, हे लिबरेटर आओ। दु:ख तो सबको है ही। बुद्धि भी कहती है कि इनको हेविन तो नहीं कहेंगे। स्वर्ग ही सबको याद आता है, तो जरूर अभी नर्क है। नई दुनिया थी जरूर, फिर वह शान्ति के बाद सुख की दुनिया आयेगी जरूर। वहाँ इस दु:खधाम का नाम निशान नहीं होगा। अभी फिर सुख-शान्ति का नाम निशान नही है। 5 हज़ार वर्ष पहले सुखधाम था। बाकी सब आत्मायें शान्तिधाम में रहती थी। यह भी तुम अब समझते हो जबकि तुमको परमपिता परमात्मा ने समझाया है। कहते भी हैं शल तुमको ईश्वर समझ देवे। ऐसे नहीं कहेंगे कि ब्रह्मा-विष्णु-शंकर अच्छी मत दें। ईश्वर का ही नाम लेते हैं। तो जरूर है कोई। इस समय ईश्वर ने ही मत दी होगी और साकार में ही आकर दी होगी। लिखा हुआ है श्रीमत भगवानुवाच सिर्फ नाम कृष्ण का डाल दिया है। वास्तव में है निराकार भगवान की मत। तो जरूर नई दुनिया स्थापन हुई होगी। भगवान ने तो सारी दुनिया में फेरा नहीं लगाया होगा? न सारी दुनिया आ सकती है। न भगवान सबके पास जा सकता है। न सब परमात्मा के सम्मुख हो सकते हैं। कितने ढेर मनुष्य हैं। कोई बड़ा आदमी आता है, उनको भी कोई सब थोड़ेही देख सकेंगे। इतनी सब मनुष्यात्माओं को बाप आकर गति वा सद्गति देते हैं। शान्तिधाम और सुखधाम अलग-अलग हैं। सुखधाम में अशान्ति नहीं होती। दु:खधाम में फिर शान्ति नहीं होती। यह सब बातें बाप समझाते हैं, जो कोई शास्त्र में नहीं होंगी। भगवान को कहा जाता है नॉलेजफुल, वह सब कुछ जानते हैं। उनकी गति वा सद्गति की मत सबसे न्यारी है। गाते भी हैं हे प्रभू तुम्हरी गत मत तुम ही जानो। जब तुम बताओ तब ही हम जानें। तो जरूर उनको आना पड़े, नहीं तो सद्गति कैसे दे। सर्व का सद्गति दाता और सर्व का बाप वह है। सब आपस में भाई-भाई हैं, न कि बाप ही बाप हैं। यह समझ की बात है। परन्तु आसुरी मत ने जो सुनाया वह मान लिया। सब आसुरी मत के अधीन हैं। तुम्हारे पास अब कितनी रोशनी है। यह लक्ष्मी-नारायण जो इतनी ऊंच सद्गति को पाये हुए हैं, उन्हों में भी यह नॉलेज नहीं रहती। त्रिकालदर्शी बाप है, उन द्वारा यह राज्य पाया है। बाप किन्हों को आकर त्रिकालदर्शी बनाते हैं? जरूर बच्चों को ही बनायेंगे। सगे बच्चों को सिखायेंगे फिर उन द्वारा और सीखेंगे। बाप का बच्चा ब्रह्मा। ब्रह्मा के बच्चे तुम ब्राह्मण। विष्णु वा शंकर के बच्चे नहीं कहा जाता। गायन है प्रजापिता ब्रह्मा तो यह ब्रह्मा भी पिता, शिव भी पिता। दोनों बाप ठहरे। जरूर ब्रह्मा द्वारा ही सृष्टि रचेंगे। गायन भी है ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मणों की स्थापना। अनेक धर्म मनुष्यों के हैं तो एक धर्म भी मनुष्यों का था। मनुष्यों की बात है। जानवरों की तो हो न सके। बाबा ने समझाया है पहला प्रश्न पूछो कि पतित-पावन कौन? परमपिता परमात्मा या गंगा जल? एक फैंसला करो। फिर इतने मेले आदि पर जो भटकते हैं, उनसे छूट जायेंगे। कहते हैं पतित-पावन, तो बुद्धि ऊपर जाती है। पतित-पावनी गंगा कहने से फिर बुद्धि पानी की तरफ चली जाती है। ज्ञान अमृत नाम सुना है तो गंगाजल को अमृत समझते हैं। तो सबसे मुख्य प्रश्न यह है।

बाबा युक्तियां बहुत बताते हैं परन्तु किसको याद भी पड़े। बच्चे लिखते हैं बहुत प्रभावित हुआ परन्तु बुद्धि में बैठा कुछ भी नहीं। सिर्फ इतना समझते हैं ब्रह्माकुमारियां अच्छा रास्ता बताती हैं। घर गये खलास इसलिए प्रदर्शनी में जब आते हैं तो एक-एक बात पर अच्छी तरह समझाकर लिखाना चाहिए। सैकड़ों आते हैं, कोई की बुद्धि में एक बात भी नहीं ठहरती। बाबा के पास ऐसा समाचार नहीं आता है कि इन-इन मुख्य बातों पर भाषण किया। यह स्कूल है, टीचर पूछता है तो स्टूडेन्ट को जवाब देना पड़ता है। तुम टीचर होकर पूछेंगे तो जवाब देंगे। बच्चे बहुत खुश होते हैं। तुम बच्चे उतरती कला और चढ़ती कला पर भी समझाते हो। कोई मुक्ति में गये, कोई जीवनमुक्ति में गये, सबका भला हो गया। सबकी चढ़ती कला हो गई। अब फिर उन सतोप्रधान सतयुग वालों को तमोप्रधान में नीचे जरूर आना है। तो यह भी दिखाना पड़े कि द्वापर से उतरती कला होती है। चढ़ती कला, उतरती कला का भी स्लाइड है। परन्तु बच्चे समझाते नहीं। हर एक बात पूछना चाहिए यह पढ़ाई है, टीचर होकर बैठना चाहिए। बाकी भाषण किया, स्टेज पाट्री बना, यह तो कामन है। यहाँ तो हर एक बात पूछनी है। सर्व का सद्गति दाता, पतित-पावन बाप एक है वा सर्वव्यापी है? अगर सर्वव्यापी है तो फिर बाप कैसे ठहरा? बताओ, पतित-पावन, ज्ञान का सागर गीता का भगवान है या श्रीकृष्ण? भगवान किसको कहेंगे? जरूर निराकार को कहेंगे। इस हिसाब से गीता खण्डन हो गई। गीता माई बाप खण्डन तो सब शास्त्र खण्डन हो गये। तुम सिद्धकर बताओ कि सारी दुनिया झूठी है, सब पत्थरबुद्धि हैं। पारसबुद्धि होते ही हैं सतयुग में। पत्थरबुद्धि हैं तब तो बाबा आकर पारसबुद्धि बनाते हैं। जो पारसबुद्धि थे वही आकर पत्थरबुद्धि बने हैं, जबकि सृष्टि का भी अन्त है। बीच के टाइम में हम कह नहीं सकते कि तुच्छ बुद्धि वा तमोप्रधान हैं। पिछाड़ी में सब तमोप्रधान बनते हैं। क्रिश्चियन धर्म आया तो ऐसे नहीं कहेंगे कि तमोगुणी थे। नहीं। उनको भी सतो, रजो, तमो से पास करना है। इस समय सारा झाड जड़जड़ीभूत है। इनका विनाश होना है। इस पर अच्छी रीति भाषण करना है। ऐसे नहीं जो आया सो बोल दिया। बड़े अक्षरों में यह पहेली लगा दो, जो सब पढ़ें कि गीता का भगवान पुनर्जन्म रहित, ज्ञान सागर परमपिता परमात्मा या श्रीकृष्ण? भगवान ने ही गीता रची और पतितों को पावन बनाया। याद भी उनको करते हैं। अब कृष्ण की आत्मा भी पावन बन रही है। इस बात को उठाते नहीं हैं। 5 विकारों के डायलाग बहुत करते हैं। विहंग मार्ग की सर्विस करनी चाहिए। अपने को अक्लमंद बहुत समझते हैं परन्तु ख्याल करना चाहिए कि अक्लमंद कैसे हो सकते हैं? अभी तो कच्चे हैं। हर एक मर्चेन्ट, हर एक धर्म वालों को तुम्हें अलग-अलग निमंत्रण देना है। रामकृष्ण वालों का बड़ा मठ है। हरिजन की भी एसोशियेसन है, उनके जो मुख्य हैं सबको निमंत्रण देकर बुलाना चाहिए। ऐसे काम करने वाले कोई हों जो इसमें लगे रहें। आपस में राय करनी चाहिए। बाप श्रीमत देते हैं। मुख्य प्रोब की बात उठानी है। तुम माताओं को अच्छी तरह ललकार करनी चाहिए। कमजोर नहीं बनना चाहिए। लेकिन कई ब्राह्मणों की भी आपस में नहीं बनती है। मतभेद के कारण आपस में बात भी नही करते हैं। देह-अभिमान बहुत है। रामराज्य में जाने के लिए तो लायक बनना पड़े ना। यह है ईश्वरीय राज्य, इसमें आसुरी स्वभाव वाले रह न सकें। उनको बी.के. कहलाने का भी हक नहीं है। बाप कितना मीठा प्यारा है, तो बाप समान बनना चाहिए। कोई-कोई बच्चे कितने कड़ुवे बन पड़ते हैं। बाप कहते हैं यह तो जंगली कांटे हैं। तो एक-एक बात पर अच्छी तरह पूछकर फिर लिखाना चाहिए। पतित-पावन परमात्मा या गंगा? सर्व का सद्गति दाता परमपिता परमात्मा या पानी की गंगा? ऐसे चित्र बनाने चाहिए। प्रोजेक्टर में भी पहेलियां आ सकती हैं। अब जज़ करो गीता का भगवान कौन? बाप तो डायरेक्शन देते हैं। पहली मूल बात सिद्ध करो। अल्फ को जाना तो सब कुछ जान जायेंगे। बीज को जानने से झाड़ को जान जायेंगे। तुम बच्चों को बहुत मेहनत करनी है, सिर्फ कहते हैं बी.के. बहुत अच्छी सर्विस कर रही हैं, मनुष्यों को लाभ लेना चाहिए। आता एक भी नहीं है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) आपस में राय कर विंहग मार्ग की सेवा करनी है। कभी मतभेद में नहीं आना है।

2) टीचर बन सभी को अल्फ की पहचान देनी है। चढ़ती कला और उतरती कला का राज़ समझाना है। ज्ञान की पहेलियां पूछकर सत्यता को सिद्ध करना है।

वरदान:- मालिकपन की स्मृति द्वारा परवश स्थिति को समाप्त करने वाले सदा समर्थ भव 
जो सदा मालिकपन की स्मृति में स्थित रहते हैं – उनके संकल्प आर्डर प्रमाण चलते हैं। मन, मालिक को परवश नहीं बना सकता। ब्राह्मण आत्मा कभी अपने कमजोर स्वभाव-संस्कार के वश नहीं हो सकती। जब स्वभाव शब्द सामने आये तो स्वभाव अर्थात् स्व प्रति व सर्व के प्रति आत्मिक भाव, इस श्रेष्ठ अर्थ में टिक जाओ और जब संस्कार शब्द आये तो अपने अनादि और आदि संस्कारों को स्मृति में लाओ तो समर्थ बन जायेंगे। परवश स्थिति समाप्त हो जायेगी।
स्लोगन:- वरदानों की शक्ति जमा कर लो तो परिस्थिति रूपी आग भी पानी बन जायेगी।

मातेश्वरी जी के अनमोल महावाक्य

1- ओम् रटो माना ओम् जपो, जिस समय हम ओम् शब्द कहते हैं तो ओम् कहने का मतलब यह नहीं कि ओम् शब्द का उच्चारण करना है सिर्फ ओम् कहने से कोई जीवन में फायदा नहीं। परन्तु ओम् के अर्थ स्वरूप में स्थित होना, उस ओम् के अर्थ को जानने से मनुष्य को वो शान्ति प्राप्त होती है। अब मनुष्य चाहते तो अवश्य हैं कि हमें शान्ति प्राप्त होवे। उस शान्ति स्थापन के लिये बहुत सम्मेलन करते हैं परन्तु रिजल्ट ऐसे ही दिखाई दे रही है जो और अशान्ति दु:ख का कारण बनता रहता है क्योंकि मुख्य कारण है कि मनुष्यात्मा ने जब तक 5 विकारों को नष्ट नहीं किया है तब तक दुनिया पर शान्ति कदाचित हो नहीं सकती। तो पहले हरेक मनुष्य को अपने 5 विकारों को वश करना है और अपनी आत्मा की डोर परमात्मा के साथ जोड़नी है तब ही शान्ति स्थापन होगी। तो मनुष्य अपने आपसे पूछें मैंने अपने 5 विकारों को नष्ट किया है? उन्हों को जीतने का प्रयत्न किया है? अगर कोई पूछे तो हम अपने 5 विकारों को वश कैसे करें, तो उन्हों को यह तरीका बताया जाता है कि पहले उन्हों को ज्ञान और योग का वास धूप लगाओ और साथ में परमपिता परमात्मा के महावाक्य हैं – मेरे साथ बुद्धियोग लगाए मेरे बल को लेकर मुझ सर्वशक्तिवान प्रभु को याद करने से विकार हटते रहेंगे। अब इतनी चाहिए साधना, जो खुद परमात्मा आकर हमें सिखाता है।

‘परमात्मा की सद्गति करने की गत मत परमात्मा ही जानता है’

तुम्हारी गत मत तुम ही जानो… अब यह महिमा किसकी यादगार में गाते हैं? क्योंकि परमात्मा की सद्गति करने की जो मत है वो तो परमात्मा ही जानता है। मनुष्य नहीं जान सकता, मनुष्य की सिर्फ यह इच्छा रहती है कि हमको सदा के लिये सुख चाहिए, मगर वो सुख कैसे मिले? जब तक मनुष्य अपने 5 विकारों को भस्म कर कर्म अकर्म नहीं बनाये तब तक वो सुख मिल नहीं सकता, क्योंकि कर्म अकर्म विकर्म की गति बहुत गहन है जिसको सिवाए परमात्मा के और कोई मनुष्य आत्मा उसकी गति को नहीं जान सकता। अब जब तक परमात्मा ने वो गति नहीं सुनाई है तब तक मनुष्यों को जीवनमुक्ति प्राप्त नहीं हो सकती, इसलिए मनुष्य कहते हैं तेरी गत मत तुम ही जानो। इनकी सद्गति करने की मत वो परमात्मा के पास है। कैसे कर्मों को अकर्म बनाना है, यह शिक्षा देना परमात्मा का काम है। बाकी मनुष्यों को तो यह ज्ञान नहीं, जिस कारण वो उल्टा कार्य करते रहते हैं, अब मनुष्य का पहला फर्ज़ है अपने कर्मों को सुधारना, तब ही मनुष्य जीवन का पूरा लाभ उठा सकेंगे। अच्छा।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize