bkmurli 24 august 2017

TODAY MURLI 24 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 23 August 2017 :- Click Here

24/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this confluence of the Father, the Ocean of Knowledge, and the Brahmaputra River is like a diamond. You children come here to change from shells into diamonds.
Question: When and how is the golden-aged kingdom established?
Answer: When the whole of the impure world is cleansed, that is, when the old world is destroyed, the golden-aged kingdom will be established. You have to become ready before then; you have to become pure. The era of the new kingdom will begin when not a single impure person remains. That era will not begin here. Although Radhe and Krishna will have taken birth, it won’t be called the golden age at that time. It is when they sit on the throne of the kingdom in the form of Lakshmi and Narayan that that era will begin. Until then, souls will continue to come and go. All of these things have to be churned.
Song: This is the Spring to forget the world.

Om shanti. Where have you children come? To the shores of the Ocean of Knowledge. In fact, you reside on the banks of the Ganges of knowledge and you have now come to the shores of the Ocean of Knowledge. Who has come? The Ganges of knowledge. In order to become what? To change from shells into diamonds, that is, from being poverty-stricken to become the crown on the head. Brahma is Brahmaputra and Shiva is the Ocean of Knowledge. This is the Brahmaputra River. He is a child. Brahma is the son of Shiva. You are grandsons and granddaughters. In Calcutta, a very big meeting takes place between the ocean and rivers; the Ganges, the Brahmaputra and the ocean meet there. Other rivers also merge into the Brahmaputra River. The main meeting is that of the Brahmaputra and the ocean. That is called Diamond Harbour. The British gave it that name. They don’t understand the meaning of it at all. They just gave it that name. The Father explains its meaning to you. At this time you have personally come to the Brahmaputra and the Ocean of Knowledge. You personally go to the ocean there too in order to become diamonds. However, instead of becoming diamonds, you become stone because that is the path of devotion. This is the confluence of souls with the Supreme Soul. Both are together: that is non-living (memorial) whereas this is the living form. This one can go anywhere. Therefore, you children should always understand that both the Brahmaputra and the Ocean are combined in the living form. This is the confluence to become a diamond. You have to become like diamonds. This one is the Brahmaputra and the adopted Ganges of knowledge. These rivers are countless. Everyone knows that there are many rivers in Bharat; these are countless. You cannot reach the end of these rivers of knowledge. It is only at this time that the rivers emerge from the Ocean. First, the Brahmaputra emerges and then other smaller rivers emerge from that. You know this, numberwise, according to the effort you make. Some are big and others are small. That One makes all human beings become like diamonds. It wouldn’t be said that only those of the sun dynasty become emperors and empresses; no. As are the king and queen, so the people. The lives of all of you become like diamonds. Those who make even a little effort for heaven become like diamonds. This Brahmaputra River and the Ocean both live together. When you children come here, you understand internally that you have come to BapDada. The Father is the Ocean of Knowledge and He enters this Brahmaputra, that is, Brahma. He makes you become like diamonds through this one. Now, it depends on how much effort each of you makes and how much you follow shrimat. You also know that you have to make effort whilst you are still alive. You continue to receive these teachings. The results of the examination will emerge at the time of destruction. On the one hand, the results will be announced and on the other hand, destruction will begin. Then, there will be cries of distress, don’t even ask! This is why you have to become ready before destruction and the war takes place. You should understand how much time now remains. You also know that when your kingdom is established, everything will have been cleansed. You continue to become pure. Those people are impure. All impure ones will be destroyed. They will settle their karmic accounts and return home. When not a single impure person remains, this world will be called the pure world. At this time you are pure, but the whole world is not pure. It will definitely become pure. After destruction takes place, the whole world will be pure. That will be called the new world. When someone asks you about the era of the new world, explain that the new era will begin when the emperor and empress sit on the throne. Until the new era begins, the old era will definitely still remain. The era will not begin from here. Although we Brahmins are new, the world, that is, everything on earth, is not new. It is now the confluence. The golden age has to come after the iron age. We say that the first princess and prince are Radhe and Krishna. Even then, we won’t call that the golden age at that time. Until Lakshmi and Narayan sit on the throne, there will continue to be one conflict or another, even though Radhe and Krishna are there. Look, these are all things to churn. When the golden age begins, the era will begin, the era of so-and-so of the sun dynasty. An era never exists by the name of the prince or princess. There will continue to be coming and going during the time in between. Dirty, impure people also have to go back. There will be a few people that still remain here. It takes time for all those who are still left here to go back home. Who is explaining this? The Ocean of Knowledge is explaining and the Brahmaputra River of knowledge is also explaining; both are explaining together. That confluence of the Kumbha takes place every year. This confluence of the Kumbha, of the Ocean and the rivers of knowledge, only takes place at the confluence age. You children say that you are going to the Mother and Father, the Ocean of Knowledge, to the big river. Baba is giving us our inheritance through this big river and the other rivers, that is, He is making us become like diamonds. People go to the Kumbha mela with so much happiness and purity and they remain pure in their thoughts, words and deeds while they are there. Those are physical pilgrimages. Pilgrims wish to benefit themselves. The guides don’t experience as much benefit as the pilgrims do. The guides simply go to accumulate money. They don’t have as much devotional feelings as the pilgrims do. The pilgrims go with very pure feelings and some of them even have visions. There is a lingam of ice that exists at Amarnath. When you go in front of it, all you see is the ice. Those who have devotional feelings become very happy when they see it, thinking that it is the wonder of nature. People have the faith that the lingam is automatically created out of ice. However, that is nothing. The true pilgrimage is the one that you are on now. People think that they have stumbled around a great deal in order to find God, but they didn’t find God anywhere. Baba has explained to you that you cannot take a picture of God. How could you take a photograph of a point? In order to explain, you say that He is a star. The star sparkles in the centre of the forehead. Some daughters apply a tilak to the centre of the forehead. They have heard that the residence of the soul is in the forehead and so they apply a star there. That is the true tilak. The tilak of the sovereignty is a bigger tilak. They receive the physical tilak of the sovereignty. You children have the knowledge that you souls are now receiving the tilak of sovereignty. You souls understand that you are now receiving the tilak of sovereignty from the Supreme Father, the Supreme Soul. They apply a very beautiful star in the centre of the forehead; they even apply a tilak of gold. You have now received all the knowledge. We stars are now becoming like diamonds. We souls are stars. The Supreme Father, the Supreme Soul, is also just the same, a tiny star. However, He has all the knowledge. These are very deep matters. You have now received knowledge, that is, you have received enlightenment. You have seen and understood the form of the Supreme Father, the Supreme Soul. Just as you have visions of a soul, so you have visions of the Supreme Soul. He would say: I am just the same as you are. Why would children want to have visions of the Father? A soul is not bigger or smaller. As are you, so is the Father; just the praise and the part s are different. His part is unique, completely different from anyone else’s. No two souls have the same part. Two actors cannot have the same part. This is called the wonder of God. In fact, it should be called the wonder of the drama because Baba doesn’t say that He created the drama. Otherwise, the question would arise: When was it created? This is called the wonder of nature. You now know how this cycle turns. Souls are stars and have such big part s. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Almighty Authority, the World AlmightyAuthority. He is called the Ocean of Knowledge. Here, no one can be called the Ocean of Knowledge. Those who study the Vedas and scriptures only give knowledge of the scriptures. No one else has the knowledge that the Father has. Only God comes and teaches the knowledge of easy Raja Yoga. He alone is called the Ocean of Knowledge. So, this is the confluence of the rivers. You also understand that rivers emerge from an ocean. Some children don’t even know this. In the same way, no one understands the things you say. How would the Ocean of Knowledge come? How would the Ganges of knowledge receive knowledge from Him? These are matters of knowledge. People have so many others things in their intellects which they have heard from others and so they are not aware of true things. You now know about that ocean and the Ocean of Knowledge. Physical oceans and rivers continue to cause sorrow; when an ocean floods it causes so much damage. Now, everyone remembers the Ocean of Knowledge, the Purifier. No one remembers that ocean or rivers. They remember the Purifier, the Ocean of Knowledge. You rivers have emerged from this Ocean. No one knows His name, form, place or time. Although they say the name “Shiva”, they have only given His name to the lingam. Baba’s name is imperishable. Shiv Baba is the one Creator and His creation is only one and is eternal. The Father sits here and explains how it is eternal. These festivals etc. do not exist in the golden age; all of them disappear. They then begin on the path of devotion. People understand that heaven existed and will come again, but that it is hell at this time. No one knows its duration. There is extreme darkness. No one even knows the duration of the cycle. They say that this drama continues to turn but, because of not knowing its duration, they don’t understand anything.

[wp_ad_camp_5]

 

The Father sits here and tells you the essence of all the Vedas and scriptures through the mouth of Brahma. This is why they have shown the scriptures in the hands of Brahma. He cannot hold all the scriptures in his hands. No one else relates all the scriptures through Brahma either. You know that all of them belong to the path of devotion. You have continued to study them. No one knows when they began studying them. They simply say that they are eternal, that Vyas wrote the Vedas. They consider the Vedas to be more elevated. However, it is also written that the Vedas and scriptures are the creation of the Gita. You children know that the same Vedas and scriptures will be created again. They will then be given the same names. You now know that you are once again becoming worthy of worship. You will then become worshippers and you will build temples etc. When the kings and queens build temples, the subjects also do the same. When the path of devotion begins, everyone begins to build temples. They even build them in their homes. Temples to Radhe and Krishna cannot be built in the kingdom of Lakshmi and Narayan. The temples are built on the path of devotion. As they continue to fall, they continue to build temples. The property of the sun and moon dynasties is enjoyed by the merchant and shudra dynasties. Where else would the kingdom come from? The same property continues to exist. The large properties gradually become smaller until, eventually, none of them remains. They continue to distribute them amongst themselves. Therefore, you children now understand how you become worthy of worship, for how long you remain that and then how you become worshippers. You have now understood what the name, form, place, time and part of the Supreme Father, the Supreme Soul, is, have you not? On the path of devotion too, the Father fulfils the pure desires of devotees. It is Ravan who fulfils impure desires. The Ocean of Knowledge has made all the knowledge sit in your intellects. Not everyone will understand. Those who belonged here in the previous cycle are the ones who will continue to emerge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Continue to make effort for as long as you live. Put the Father’s teachings into practice. Become a master ocean of knowledge, the same as the Father.
  2. Become a spiritual guide and enable everyone to go on the true pilgrimage. Become like a diamond and also make others the same.
Blessing: May you be unshakeable, immovable and a conqueror of matter who remains seated on the unshakeable seat of a detached observer.
Whether matter creates upheaval or shows her beautiful games, souls who are masters of matter observe both as games. They enjoy watching the games and are not afraid. Those who practise remaining seated on the unshakeable seat of the stage of a detached observer through their tapasya cannot be shaken by any situations of matter or of people. The five players of matter and the five players of Maya are playing their games and you just have to watch those as detached observers for only then will you be said to be souls who are unshakeable, immovable and conquerors of matter.
Slogan: Those who stabilise their minds and intellects on the one Father are the ones who become worthy-of-worship souls.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 22 August 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 24 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 August 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 23 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 24/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

 

24/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – ज्ञान सागर बाप और ब्रह्म-पुत्रा नदी का यह संगम हीरे समान है, यहाँ तुम बच्चे आते हो – कौड़ी से हीरे जैसा बनने”
प्रश्नः- सतयुगी राजधानी की स्थापना कब और कैसे होगी?
उत्तर:- जब सारी पतित सृष्टि की सफाई हो अर्थात् पुरानी सृष्टि का विनाश हो तब सतयुगी राजधानी की स्थापना होगी। उसके पहले तुम्हें तैयार होना है, पावन बनना है। नई राजधानी का संवत तब शुरू होगा जब एक भी पतित नहीं रहेगा। यहाँ से संवत शुरू नहीं होगा। भल राधे-कृष्ण का जन्म हो जायेगा लेकिन उस समय से सतयुग नहीं कहेंगे। जब वह लक्ष्मी-नारायण के रूप में राज-गद्दी पर बैठेंगे तब संवत प्रारम्भ होगा, तब तक आत्मायें आती जाती रहेंगी। यह सब विचार सागर मंथन करने की बातें हैं।
गीत:- यही बहार है…

ओम् शान्ति। यह बच्चे कहाँ आये हुए हैं? ज्ञान सागर के कण्ठे पर। वैसे रहते हैं ज्ञान गंगाओं के कण्ठे पर और अभी आये हैं ज्ञान सागर के कण्ठे पर। कौन आये हैं? ज्ञान गंगायें। क्या बनने लिए? कौड़ी से हीरे अथवा कंगाल से सिरताज बनने लिए। ब्रह्मा है ब्रह्म-पुत्रा और शिव है ज्ञान सागर। यह है ब्रह्मपुत्रा नदी। बच्चा तो है ना। ब्रह्मा वल्द शिव। तुम हो पोत्रे और पोत्रियां। कलकत्ता में सागर और नदी का बड़ा भारी मेला लगता है। वहाँ गंगा, ब्रह्मपुत्रा और सागर मिलते हैं। ब्रह्मपुत्रा में और भी नदियां मिलती हैं। मुख्य है ब्रह्म पुत्रा और सागर का संगम। उनको ही कहते हैं डायमन्ड हारबर। यह नाम अंग्रेजों ने रखा है। अर्थ कुछ भी नहीं समझते, नाम सिर्फ ऐसे ही रख दिया है। बाप अर्थ समझाते हैं। तुम आये हो इस समय ब्रह्म पुत्रा और ज्ञान सागर के पास सम्मुख। वहाँ भी सागर के सम्मुख जाते हो हीरा बनने के लिए। परन्तु हीरों के बदले पत्थर बन जाते हो क्योंकि वह है भक्ति मार्ग। यह संगम है आत्माओं और परमात्मा का। दोनों इकट्ठे हैं, वह जड़ यह चैतन्य। यह तो कहाँ भी जा सकते हैं। तो बच्चों को हमेशा यह समझना चाहिए कि ब्रह्मपुत्रा और सागर दोनों इकट्ठे हैं चैतन्य में। यह जैसेकि हीरे बनने का संगम हो गया। तुम हीरे जैसा बनो। यह है ब्रह्मपुत्रा और एडाप्टेड ज्ञान गंगायें। यह नदियां तो अनगिनत हैं। उन नदियों का तो सबको मालूम है कि भारत में इतनी नदियां हैं। यह तो अनगिनत हैं। इन ज्ञान नदियों का तो अन्त नहीं पाया जा सकता है। सागर से नदियां इस समय ही निकलती हैं। पहले तो ब्रह्मपुत्रा निकलती है फिर उनसे छोटी-छोटी नदियां निकलती हैं। तुम जानते हो नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। कोई बड़े हैं कोई छोटे हैं, यह सब मनुष्यों को हीरे जैसा बनाते हैं। ऐसे भी नहीं कहेंगे कि सूर्यवंशी ही महाराजा महारानी बनते हैं। नहीं। यथा राजा रानी तथा प्रजा। तुम सबका जीवन हीरे जैसा बनता है, जो स्वर्ग के लिए थोड़ा भी पुरूषार्थ करते हैं वह हीरे जैसा बनते हैं। यह ब्रह्म पुत्रा नदी और सागर दोनों इकट्ठे रहते हैं। तुम बच्चे जब आते हो तो अन्दर में जानते हो कि हम जाते हैं – बापदादा के पास। बाप ज्ञान का सागर है फिर प्रवेश करते हैं इस ब्रह्मपुत्रा अर्थात् ब्रह्मा में। इन द्वारा हमको हीरे जैसा बनाते हैं। अब जो जितना पुरूषार्थ कर श्रीमत पर चले। यह भी जानते हो जहाँ तक जीना है वहाँ तक पुरूषार्थ करना है। शिक्षा तो मिलती रहती है। इम्तहान की रिजल्ट तो विनाश के समय ही निकलती है। एक तरफ रिजल्ट निकलेगी दूसरे तरफ विनाश शुरू होगा, फिर तो हाहाकार हो जाता है। बात मत पूछो इसलिए विनाश होने के पहले, लड़ाई होने के पहले तैयार होना है। समझना चाहिए बाकी और क्या समय होगा और यह भी जानते हो कि जब हमारी राजधानी स्थापन होती है तो यह सारी सफाई भी होनी है। तुम पावन बनते रहते हो। वह हैं पतित। सब पतित खलास हो जाएं, हिसाब-किताब चुक्तू कर सब वापिस चले जायें। एक भी पतित न रहे तब कहेंगे पावन दुनिया। तुम इस समय हो पावन परन्तु सारी दुनिया तो पावन नहीं है ना। पावन बनेंगी जरूर। जब विनाश होगा तब सारी दुनिया पावन होगी, उसको नई दुनिया कहेंगे। नई दुनिया का संवत कोई पूछे तो समझाना चाहिए जब महाराजा महारानी तख्त पर बैठते हैं तब नया संवत शुरू होता है। जब तक नया संवत शुरू हो तब तक पुराना जरूर कायम रहेगा। यहाँ से संवत शुरू नहीं होगा। हम ब्राह्मण भल नये हैं। परन्तु दुनिया अथवा सारी पृथ्वी थोड़ेही नई है। अभी है संगम। कलियुग के बाद सतयुग आना है। हम कहते ही हैं फर्स्ट प्रिन्स प्रिन्सेज राधे कृष्ण, फिर भी हम उस समय सतयुग नहीं कहेंगे। जब तक लक्ष्मी-नारायण तख्त पर नहीं बैठे हैं तब तक कुछ न कुछ खिटपिट होती रहेगी, भल राधे कृष्ण आ जाते हैं। देखो यह हैं विचार सागर मंथन करने की बातें। सतयुग जब शुरू होगा तब संवत शुरू होगा। सूर्यवंशी डिनायस्टी का संवत फलाना। परन्तु प्रिन्स प्रिन्सेज के नाम पर संवत कभी नहीं होता। बाकी बीच के समय में आना जाना होता रहता है। छी-छी मनुष्यों को भी जाना है। कुछ न कुछ बचे हुए तो रहते ही हैं ना। जो भी बचे हुए होंगे वह भी वापिस जायें, टाइम लगता है। यह कौन समझाते हैं? ज्ञान सागर भी समझाते हैं तो ब्रह्मपुत्रा ज्ञान नदी भी है, दोनों इकट्ठे समझाते हैं। वह कुम्भ का मेला तो वर्ष-वर्ष लगता है। यह कुम्भ का मेला, सागर और ज्ञान नदियों का मेला तो संगमयुग पर ही होता है। तुम बच्चे कहेंगे हम जाते हैं मात-पिता वा ज्ञान सागर और बड़ी नदी के पास। बाबा हमको इस बड़ी नदी और इन नदियों द्वारा वर्सा दे रहे हैं अर्थात् हीरे जैसा बनाते हैं। कुम्भ के मेले में कितना खुशी से बड़ी शुद्धि से जाते हैं और वहाँ मन्सा-वाचा-कर्मणा पवित्र रहते हैं। वह है जड़ यात्रा। यात्री अपना कल्याण करना चाहते हैं। पण्डों का इतना कल्याण नहीं होता है जितना यात्रियों का। पण्डे लोग तो पैसा इकट्ठा करने जाते हैं। उन्हों की इतनी भावना नहीं होती जितनी यात्रियों की रहती है। यात्री बड़ी शुद्ध भावना से जाते हैं, तो कईयों को साक्षात्कार हो जाता है। अमरनाथ पर बर्फ का लिंग बना रहता है। सामने जाने से बर्फ ही बर्फ जैसे देखने में आती है। भावना वाले जैसे देखते तो खुश हो जाते हैं, यह तो कुदरत है। बर्फ में लिंग बन जाता है, मनुष्यों की ऐसी भावना बैठ जाती है। है कुछ भी नहीं। सच्ची यात्रा तो अभी तुम्हारी हो रही है। मनुष्य समझते हैं भगवान के पिछाड़ी बहुत धक्का खाया है, भगवान से मिलने, परन्तु भगवान मिलता ही नहीं।

बाबा ने समझाया है भगवान का तो चित्र नहीं निकाल सकते हैं। बिन्दी का फोटो क्या होगा! वह तो समझाने के लिए कहा जाता है कि स्टार है। भ्रकुटी के बीच चमकता है…कई बच्चियां भ्रकुटी में टीका लगाती है। यह सुना हुआ है ना कि आत्मा का निवास भ्रकुटी में है तो स्टार लगाती हैं, सच्चा तिलक अगर कहें तो वह है। राजाई का तिलक फिर बड़ा होता है। वह स्थूल राजतिलक मिलता है। तुम बच्चों को ज्ञान आ जाता है कि हम आत्माओं को अब राजतिलक मिलता है। आत्मा समझती है कि अभी हमको परमपिता परमात्मा से राजतिलक मिलता है। भ्रकुटी के बीच बहुत अच्छा स्टार लगाते हैं। सोने का भी लगाते हैं। अभी तुमको सारा ज्ञान मिला हुआ है, हम स्टार अब हीरे जैसा बनते हैं। हम आत्मा स्टार हैं। परमपिता परमात्मा भी स्टार इतना ही छोटा है, परन्तु उनमें सारी नॉलेज है, यह बातें बड़ी गुह्य हैं। तुमको ज्ञान अर्थात् सोझरा मिला है। परमपिता परमात्मा के रूप को भी देखा, समझा है। जैसे आत्मा का साक्षात्कार होता है वैसे परमात्मा का भी होता है। कहेंगे जैसे तुम हो वैसे मैं हूँ। बाकी बच्चे को बाप का क्या साक्षात्कार चाहिए। आत्मा छोटी बड़ी नहीं होती। जैसे तुम वैसे बाप है। सिर्फ महिमा और पार्ट अलग-अलग है और सबसे भिन्न-भिन्न है, एक न मिले दूसरे से। एक्टर्स का पार्ट एक जैसा थोड़ेही हो सकता है। इसको ईश्वर की कुदरत कहा जाता है। वास्तव में ड्रामा की कुदरत कहें क्योंकि बाबा ऐसे नहीं कहते कि मैंने ड्रामा बनाया है। फिर प्रश्न उठेगा कि कब बनाया? इनको कहा ही जाता है कुदरत। यह चक्र कैसे फिरता है सो अभी तुम जान गये हो। आत्मा स्टार है उसमें कितना बड़ा पार्ट है। परमपिता परमात्मा सर्वशक्तिमान, वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी है। ज्ञान का सागर कहा जाता है। यहाँ किसको ज्ञान का सागर नहीं कहा जाता। वेद शास्त्र पढ़ने वाले शास्त्रों का ही ज्ञान सुनाते हैं। बाकी बाप में जो ज्ञान है वह तो कोई में नहीं है। भगवान ही आकर सहज राजयोग का ज्ञान सिखलाते हैं। उनको ही ज्ञान का सागर कहेंगे। तो यह नदियों का मेला लगता है। यह भी समझते हो कि सागर से ही नदियां निकलती हैं। कई बच्चों को यह भी मालूम नहीं रहता है। वैसे ही तुम्हारी बातों को भी कोई नहीं जानते। ज्ञान सागर कैसे आता होगा, उनसे ज्ञान गंगायें कैसे ज्ञान पाती होंगी। यह हैं ज्ञान की बातें। मनुष्यों द्वारा बुद्धि में जो बातें बैठी हैं तो सच्ची बातों का किसको पता नहीं है। तुम अब उस सागर और इस ज्ञान सागर को जान गये हो। अभी वह सागर और नदियां तो दु:ख देती रहती हैं। सागर भी उछल पड़े तो कितना नुकसान कर देते हैं। अभी ज्ञान सागर पतित-पावन को सब याद करते हैं, उस सागर वा नदियों को कोई याद नहीं करते। पतित-पावन, ज्ञान सागर को याद करते हैं। उस सागर से ही यह नदियां निकली हैं। उनके नाम रूप देश काल को कोई जानते नहीं हैं। भल शिव नाम कहते भी हैं सिर्फ लिंग का नाम रख दिया है। बाबा का नाम अविनाशी है ना। शिवबाबा रचयिता एक है, उनकी रचना भी एक है और अनादि है। कैसे अनादि है, वह बाप बैठ समझाते हैं। सतयुग में यह त्योहार आदि कुछ भी होते नहीं। सब गायब हो जाते हैं। फिर भक्तिमार्ग में शुरू होंगे।

[wp_ad_camp_5]

 

मनुष्य समझते हैं – स्वर्ग था फिर स्वर्ग आयेगा परन्तु इस समय तो नर्क है। इनकी आयु का किसको पता नहीं है, घोर अन्धियारा है। कल्प की आयु का भी किसको पता नहीं है। कहते भी हैं यह जो ड्रामा है यह फिरता रहता है। परन्तु आयु का पता न होने के कारण कुछ भी समझते नहीं हैं। ब्रह्मा के मुख द्वारा बाप बैठ सभी वेदों शास्त्रों का सार समझाते हैं तो उन्होंने फिर ब्रह्मा के हाथ में शास्त्र दे दिये हैं। वह भी सब शास्त्र हाथ में थोड़ेही पकड़ सकते हैं वा ब्रह्मा द्वारा कोई सब शास्त्र थोड़ेही सुनाते हैं। जानते हैं यह सब भक्ति मार्ग के हैं। यह तो पढ़ते आये हैं। कब से पढ़ते आये हैं, जानते कुछ भी नहीं। सिर्फ कह देते यह अनादि हैं। वेद व्यास ने रचे हैं। वेदों को ऊंचा मानते हैं। परन्तु लिखा हुआ है – वेद शास्त्र आदि सब गीता की रचना हैं। तुम बच्चे जानते हो यह वेद शास्त्र आदि वही फिर बनेंगे। फिर वह नाम रखेंगे। अभी तुम जानते हो हम फिर पूज्य बन रहे हैं फिर पुजारी बनेंगे तो मन्दिर आदि बनायेंगे। राजा रानी मन्दिर बनायेंगे तो प्रजा भी बनायेगी। भक्तिमार्ग शुरू होने से फिर सब मन्दिर बनाने लगते हैं। घर-घर में भी बनायेंगे। लक्ष्मी-नारायण की राजधानी में तो राधे कृष्ण का मन्दिर बन नहीं सकता। मन्दिर तो भक्तिमार्ग में बनते हैं। जैसे जैसे गिरते जाते हैं, मन्दिर बनाते जाते हैं। सूर्यवंशी और चन्द्रवंशियों की जो प्रापर्टी है वह वैश्य वंशी, शूद्र वंशी भोगते हैं। नहीं तो यह राजाई कहाँ से आये। प्रापर्टी चलती आती है। बड़ी-बड़ी जो प्रापर्टी है वह छोटी-छोटी होते फिर आखरीन कुछ भी नहीं रहता है। आपस में बांटते जाते हैं। तो बच्चों को अब समझ में आ गया है कि कैसे हम पूज्य बनते हैं। कितना समय बनते हैं फिर कैसे पुजारी बनते हैं। अभी समझ गये ना कि परमपिता परमात्मा का नाम रूप देश काल और उनका पार्ट क्या है। भक्ति मार्ग में भी भक्तों की शुद्ध भावना बाप ही पूरी करते हैं। अशुद्ध भावना रावण पूरी करते हैं। अभी तुमको ज्ञान सागर ने सारा ज्ञान बुद्धि में बिठाया है। सब तो नहीं समझेंगे। जो कल्प पहले वाले हैं वही निकलते रहेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) जब तक जीना है पुरूषार्थ करते रहना है। बाप की शिक्षाओं को अमल में लाना है। बाप समान मास्टर ज्ञान सागर बनना है।

2) रूहानी पण्डा बन सबको सच्ची यात्रा करानी है। हीरे जैसा बनना और बनाना है।

वरदान:- साक्षीपन के अचल आसन पर विराजमान रहने वाले अचल-अडोल, प्रकृतिजीत भव
प्रकृति चाहे हलचल करे या अपना सुन्दर खेल दिखाये-दोनों में प्रकृतिपति आत्मायें साक्षी होकर खेल देखती हैं। खेल देखने में मजा आता है, घबराते नहीं। जो तपस्या द्वारा साक्षीपन की स्थिति के अचल आसन पर विराजमान रहने का अभ्यास करते हैं, उन्हें प्रकृति की वा व्यक्तियों की कोई भी बातें हिला नहीं सकती। प्रकृति और माया के 5-5 खिलाड़ी अपना खेल कर रहे हैं आप उसे साक्षी होकर देखो तब कहेंगे अचल अडोल, प्रकृतिजीत आत्मा।
स्लोगन:- मन-बुद्धि को एक बाप में एकाग्र करने वाले ही पूज्य आत्मा बनते हैं

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 22 August 2017 :- Click Here

Font Resize