bkmurli 21 october 2017

TODAY MURLI 21 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 October 2017 :- Click Here

21/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, if you make the slightest mistake, Maya will swallow you in such a way that you will move away from God’s company. Therefore, be cautious and remain aware.
Question: What are the regulations for sitting in God’s class?
Answer: Only those who have recognised the Father accurately can sit in this class. Those who sit here need to have unadulterated remembrance. If, while sitting here, you continue to remember others, that will spoil the atmosphere; it is also a great disservice. Because the regulations here are very strict, there isn’t that much growth.
Question: From which one thing can you tell what the stage of the children is?
Answer: In this diseased world of sensual pleasures, when you face a test paper and begin to cry, one can tell what your stage is. You are forbidden to cry.
Song: Look at your face in the mirror of your heart!

Om shanti. Who said ‘prani’ (life force) or ‘soul’? They say that the life force has left him. So the soul has left. So the soul, and not the body, is said to be the life force. The Father asks you souls: Are you sinful souls or charitable souls? All of you believe yourselves to be impure. The Father says: Ask yourself, the soul: What sins have I committed? When did I commit them? All are sinful souls but it is numberwise. So, who are the numberwise charitable souls? Who is the number one sinful soul? Bharat was pure, but it is now impure. Today, all human beings have become slaves of Maya. They become slaves of Maya for half the cycle and then they make Maya a slave and it is then that they are called charitable souls. Lakshmi and Narayan are called a goddess and god. Where have they gone now? There weren’t just Lakshmi and Narayan in the golden age, for there was their whole dynasty. The Bharat of that time is called pure; there were human beings with divine virtues there. It is said: Full of all virtues, 16 celestial degrees full. Therefore, they were charitable souls. It is then also said that their supreme religion is that of non-violence. So they were also non-violent. There are two meanings of violence. Violence means to kill or beat someone. There are also two types of killing. One is to kill with the sword of lust and the other is to kill someone out of anger. That too is violence. At this time all are sinful souls. People say: I am without virtue; I have no virtues. They are numberwise, aren’t they? However, they are sinful souls. Therefore, when the Father comes, they should recognise Him. You speak of the Supreme Father. He doesn’t have a father, but He is the Father of all. He is the Teacher of all. The Supreme Father who resides in the supreme abode doesn’t have a father of His own. Everyone else has a father. Even Brahma, Vishnu and Shankar have the Father. It is said: Salutations to Shiva, and so He is the Father, is He not? The Father doesn’t enter rebirth, but He does take birth once in a cycle. People speak of Shiv Jayanti (the birthday of Shiva) and so that is His birth. Those who study the scriptures don’t know how Shiva takes birth. They speak of Shiv Ratri, but which night is it? People stumble in the night because of the darkness. Then, on the path of devotion, they ask people to bathe in the Ganges, to go on pilgrimage to the four places, to do this…. So, all of that is stumbling. This is the night. The golden and silver ages are the day. There is happiness in the golden age. There is no need to remember God there. It is said that everyone remembers God at the time of sorrow. Therefore, since devotees remember God and make spiritual endeavour, they are impure. Bharat is said to be impure because it is Bharat that was pure. When there was the deity religion, souls were pure. There are no other religions in the golden age. All the impure souls of other religions experience punishment and then stay in the supreme abode; they don’t enter the golden age. There was happiness, peace and prosperity in the golden age. There is only the reward there. Here, you children now follow one direction. There, in one home, you have many different directions. The father would be remembering Ganesh and the children would be remembering Hanuman and so those are many directions. Here, you children receive your inheritance from the Father. In fact, anyone can be called ‘Baba’. Gandhiji was also Bapu, but he wasn’t the father of everyone. That One is the unlimited Father. The Father comes and liberates you from the chains. There are even chains of devotion. They don’t understand that they are impure. Only the one Father makes impure ones pure. You believe in the one true Father. No one stops you when you go to other spiritual gatherings. Here, you are absolutely forbidden. Until you know the Father, you cannot sit in class because you are not worthy until you have that remembrance. Maya makes you unworthy. It is said: I am without virtue; I have no virtues. Everyone sings this. That means that everyone is impure. They even insult Brahma, Vishnu and Shankar. As is their vision, so the world they see. If someone sitting here continues to remember other beings, that is adulterated remembrance. Although there isn’t that firm remembrance because Maya breaks your intellect’s yoga, the Father nevertheless teaches you how to connect your intellect’s yoga. At the end, your remembrance will become firm. This is why it is remembered of the final moments, “If you want to know about supersensuous joy, ask the gopes and gopis.” This institution doesn’t grow so much because the regulations here are very strict. Until you know the Father, you cannot sit in class because there has to be unadulterated remembrance here. No one else can make you into a master of the land of truth. You are made into the masters of the land of truth by the Father. It is now the land of falsehood. It is said: The body is false, Maya is false and the whole world is false. It continues like this for half the cycle. For instance, when a father comes onto the path of knowledge, he also has to make his creation become pure. If the children don’t become pure, they are disobedient. In a household, if one of them becomes pure but the other one doesn’t, there is fighting and quarrelling. This is why the hearts of people shrink. When people listen to this here, they say that it is good, but, as soon as they go outside, they become as they were before. They believe what sannyasis say, that it is not possible to live at home with the family and still remain pure. So they ask how we can do that. However, here, you have to make a promise. Even the children say that they will become pure. For half the cycle, we have called out: O Bestower of Salvation, come! So, He has now come. Now, will you listen to Him or to someone else? The Father says: If you don’t listen to Me, how would you go to the golden age? If you are not a child of the Father, you are unworthy and you won’t be able to stay here. It will be difficult for such a person to stay here. Since they are then like a swan and a stork, how can they live together? Sometimes, the wife remains pure and the husband doesn’t and so the wife calls out. The Father says: Children, you will have to tolerate a great deal. OK, you can go out to work. Go and wash dishes! All you want is a piece of chapatti. It is better to wash dishes than to indulge in vice. Even a physical father doesn’t give asylum to his daughters. He would say: We have tied your hands to him for this and so you will have to indulge in vice. However, the parlokik Father says: Make a donation and the bad omens will be removed. Give the donation of the five vices so that the omens can be removed and you will then become 16 celestial degrees full, like the moon. Shri Krishna was 16 celestial degrees full. Now, there are no degrees. Now, all are impure. People say that they are impure, but if you then tell them that they are residents of hell, they become upset. At this time, the king, queen and the subjects are all impure. The golden age is the elevated world. No one cries in the golden age. Therefore, here, too, you have no right to cry. When you cry, it means that something is lacking in your stage. Since the Father is giving you sovereignty for 21 births, what is the need to cry? However, you forget this. This is the world of disease, the world in which people indulge in sensual pleasures. The golden age is the world that is free from disease (nirogi) and the world of yogis. Here, you have to remember the Father. If you don’t remember Him, you are doing disservice because you then spoil the atmosphere. Here, all are impure. You cannot become pure by donating to the impure. If you give something to impure ones, they will do something impure with it. Here, impure ones interact with impure ones. There, pure ones will interact with those who are pure. The word ‘adulterated’ is very bad. At first, even devotion was unadulterated. They used to worship only Shiva. Then, later, they began to worship deities and devotion then is said to be rajoguni. People have now even started to worship human beings; they even wash the feet of sannyasis and drink that water. The worship of human beings is said to be the worship of the elements, that is, it is the worship of the body made of the five elements. They don’t understand anything. This is why it is said that the children of the blind are blind. You are the children of the One who can see and you can all see. Those people continue to stumble in the darkness. It is said: Guru Brahma, Guru Vishnu, Guru Shankar. It is wrong to say this. Vishnu is the one who lives in the golden age. He experiences his own reward. Then, there is also Guru Brahma, but that is when the Father enters his body. Until the Father comes, of what use is this one? The unlimited Father says: Those who follow My shrimat are My worthy children. Just as the Government issues an ordinance, in the same way, this Pandava Government has also issued an ordinance: If you become pure you will become the masters of the pure world. Therefore, the Father says: Forget your body including all bodily relations and constantly remember Me alone. He makes you break your intellect’s yoga from that body and engages the soul with the Supreme Soul. So you should remember the Father and also remove attachment from the body. There is the story of the king who conquered attachment, and so you also have to become conquerors of attachment. This is a battlefield. If you make the slightest mistake in this battle, Maya will swallow you. It is said that the alligator caught the elephant. It isn’t that an elephant went into the water and the alligator caught it. No, this applies here to this time. There are very good maharathis who explain to many and also look after centres. If they make the slightest mistake, Maya swallows them. She swallows them in such a way that she makes them run away from the Father’s company. They then go into the old world. This is why you have to remain very cautious because it is boxing with Maya. These matters have to be understood very clearly. It is not just a matter of saying, “It’s true, it’s true.” It is on the path of devotion that they say, It’s true, it’s true. So-and-so was born through the nose and that is true! Hanuman was the born through the wind, and that is true!” All of those stories belong to the path of devotion. Here, it is things of knowledge that you have to imbibe. You have to battle with Maya. If, after belonging to the Father, you perform any sinful action, there will be one hundred-fold punishment. Therefore, Baba cautions you a great deal. Look, BapDada is now sitting personally in front of you and teaching you. This one would now not say: Oh God! No. Brahma is the son of Shiv Baba and then, from Brahma, he becomes Vishnu. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become 16 celestial degrees full like the moon, make a complete donation of the five vices and become liberated from bad omens.
  2. After belonging to the Father, don’t perform any sinful actions. Remove your attachment from the body and become a conqueror of attachment.
Blessing: May you be multimillion times fortunate and constantly progress by receiving the sustenance of congratulations in Brahmin life.
At the confluence age, Brahmins make progress with congratulations filled with special happiness. The basis of sustenance in Brahmin life are congratulations. From the form of the Father, you receive congratulations at every moment. From the form of the Teacher, the words “Well done, well done”, at every moment make you pass with honour s. From the Satguru, the blessings you receive for every elevated action you perform make you experience life to be easy and filled with pleasure. Therefore, you are multimillion times fortunate because you have become the children of God, the Bestower of Fortune, and claimed a right to the complete fortune.
Slogan: Only those who receive everyone’s blessings by doing true service are fortunate.

[wp_ad_camp_5]

 

Read Murli 19 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 19 October 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 21/10/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
[Web-Dorado_Zoom]
21/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – ज़रा भी ग़फलत की तो माया ऐसा हप कर लेगी जो ईश्वरीय संग से भी दूर चले जायेंगे, इसलिए अपनी सम्भाल करो, खबरदार रहो”
प्रश्नः- इस ईश्वरीय क्लास में बैठने का कायदा कौन सा है?
उत्तर:- इस क्लास में वही बैठ सकता है जिसने बाप को यथार्थ पहचाना है। यहाँ बैठने वालों की अव्यभिचारी याद चाहिए। अगर यहाँ बैठे औरों को याद करते रहे तो वह वायुमण्डल को खराब करते हैं। यह भी बहुत बड़ी डिससर्विस है। यहाँ के कायदे कड़े होने के कारण तुम्हारी वृद्धि कम होती है।
प्रश्नः- किस एक बात से बच्चों की अवस्था का पता पड़ता है?
उत्तर:- इस रोगी भोगी दुनिया में कभी कोई पेपर आता और रोने लगते तो अवस्था का पता पड़ जाता। तुम्हें रोने की मना है।
गीत:- मुखड़ा देख ले प्राणी….

ओम् शान्ति। यह किसने कहा प्राणी अथवा आत्मा, कहते हैं ना इनके प्राण निकल गये। तो आत्मा निकल गई ना। तो प्राण आत्मा को कहेंगे, न कि शरीर को। बाप आत्माओं से पूछते हैं – पाप आत्मा हो वा पुण्य आत्मा हो? सभी अपने को पतित तो मानते हैं। तो बाप कहते हैं कि अपनी आत्मा से पूछो कि हमने कौन-कौन से पाप किये हैं? कब किये हैं? पाप आत्मा तो सभी हैं ना। परन्तु नम्बरवार तो होते ही हैं। तो नम्बरवार पुण्य आत्मा कौन हैं? नम्बरवन पाप आत्मा कौन है? भारत पावन था, अब पतित है। आज सभी मनुष्य मात्र माया के गुलाम बन गये हैं। आधाकल्प माया के गुलाम बनते हैं, फिर माया को गुलाम बनाते हैं, तब उन्हों को पुण्य आत्मा कहा जाता है। लक्ष्मी-नारायण को भगवान-भगवती कहा जाता है। वह अब कहाँ गये? सतयुग में सिर्फ लक्ष्मी-नारायण तो नहीं थे, परन्तु उनकी पूरी डिनायस्टी थी। उस समय के भारत को पावन कहा जाता था। वहाँ दैवी गुण वाले मनुष्य थे। कहते हैं सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण… तो पुण्य आत्मा ठहरे ना। फिर कहते हैं अहिंसा परमोधर्म:। तो वह अहिंसक भी थे। हिंसा के दो अर्थ हैं – हिंसा माना किसका घात करना, मारना। घात भी दो प्रकार का होता है। एक काम कटारी से मारना, दूसरा किसको क्रोध से मारना। यह भी हिंसा है। इस समय सब पाप आत्मा हैं। कहते हैं ना मुझ निर्गुण हारे में कोई गुण नाही। तो नम्बरवार होते हैं ना। परन्तु हैं पाप आत्मा, तो जब बाप आता है तो बाप को पहचानना चाहिए। कहते हैं – परमपिता, तो उनको कोई पिता नहीं, वह सबका पिता है, वह सबका टीचर है। परमपिता जो परमधाम में रहते हैं, उनको कोई बाप नहीं है। बाकी सबका बाप होता है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का भी बाप है। कहते हैं शिवाए नम: तो बाप हुआ ना। बाप पुनर्जन्म में नहीं आते हैं। परन्तु वह कल्प में एक बार जन्म लेते हैं। कहते हैं शिव जयन्ती, तो जन्म हुआ ना। शास्त्रवादी तो नहीं जानते हैं शिव कैसे जन्म लेते हैं? कहते हैं शिवरात्रि, रात्रि कौन सी? रात्रि में मनुष्य अंधकार वश धक्का खाते हैं फिर भक्ति मार्ग में भी कहते हैं गंगा स्नान करो। चार धाम की यात्रा करो, यह करो। तो धक्के हुए ना। यह हो गई रात। सतयुग त्रेता है दिन। सतयुग में है सुख। वहाँ परमात्मा को याद करने की दरकार नहीं। कहते हैं दु:ख में सिमरण सब करें, तो भक्त बाप का सिमरण करते हैं, साधना करते हैं तो पतित ठहरे ना। तो पतित भारत को ही कहेंगे क्योंकि भारत ही पावन था। जब देवी-देवता धर्म था, पवित्र आत्मायें थे। सतयुग में और धर्म होते नहीं। बाकी और धर्म की जो पतित आत्मायें हैं वह सजायें खाकर परमधाम में रहती हैं। सतयुग में आती नहीं। सतयुग में सुख-शान्ति-सम्पत्ति सब थी। वहाँ है ही प्रालब्ध।

यहाँ तुम बच्चों की अभी है एक मत। वहाँ एक घर में हैं अनेक मत। बाप गणेश को याद करेगा तो बच्चा हनूमान को, तो अनेक मत हुई ना। यहाँ बाप से बच्चों को वर्सा मिलता है। ऐसे तो किसको भी बाबा कह देते हैं। गाँधी भी बापू था ना – परन्तु सबका बाप नहीं था। यह है बेहद का बाप। बाप आकर जंजीरों से छुड़ाते हैं। भक्ति की भी जंजीरें हैं। यह समझते थोड़ेही है कि हम पतित हैं। पतितों को पावन बनाने वाला एक बाप है। तुम एक सत्य बाप को मानते हो। और सतसंग में जाओ तो कोई मना नहीं करेंगे। यहाँ तो बिल्कुल मना की जाती है। जब तक बाप को नहीं जाना है तब तक क्लास में नहीं बैठ सकते क्योंकि जब तक याद नहीं तब तक लायक नहीं। माया नालायक बना देती है। कहते हैं मुझ निर्गुण हारे में कोई गुण नाही। यह सब गाते हैं। गोया सब पतित हैं। ब्रह्मा विष्णु शंकर को भी गाली देते हैं। उन्हों की जैसी दृष्टि वैसी सृष्टि दिखाई पड़ती है। अगर यहाँ कोई बैठकर भी औरों को याद करता रहे तो वह व्यभिचारी याद हो गई ना। भल याद पूरी रीति ठहरती नहीं है क्योंकि माया बुद्धियोग तोड़ देती है। फिर भी बाप तुम्हें बुद्धियोग लगाना सिखलाते हैं। अन्त में तुम्हारी याद ठहर जायेगी। तब अन्त के लिए गायन है कि अतीन्द्रिय सुख पूछना हो तो गोप-गोपियों से पूछो। यह संस्था इसलिए वृद्धि को नहीं पाती क्योंकि यहाँ के कायदे कड़े हैं। जब तक बाप को नहीं जाना है तब तक क्लास में बैठ नहीं सकते क्योंकि यहाँ अव्यभिचारी याद चाहिए। कोई सचखण्ड का मालिक नहीं बना सकता है। तुम सचखण्ड के मालिक बाप द्वारा बनते हो। अब तो झूठ खण्ड है, कहते हैं ना – झूठी काया, झूठी माया… आधाकल्प ऐसे ही चलता है। समझो बाप ज्ञान में आता है तो रचना को भी पावन बनाना पड़े। अगर बच्चे पवित्र नहीं बनें तो कपूत ठहरे। घर में अगर एक पवित्र बने, दूसरा न बनें तो झगड़ा हो पड़ता है इसलिए मनुष्यों का हृदय विदीरण होता है। यहाँ सुनते तो अच्छा-अच्छा कहते हैं परन्तु फिर बाहर गया तो फिर वैसे ही बन पड़ते। समझते हैं – सन्यासी तो कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र हो नहीं सकते। तो हम कैसे रह सकेंगे। परन्तु यहाँ तो प्रतिज्ञा करनी पड़ती है। बच्चे भी कहते हैं हम पवित्र बनेंगे। आधाकल्प तो हमने पुकारा है कि सद्गति दाता आओ। तो अब वह आये हैं। तो अब उनकी मानेंगे कि भला किसी दूसरे की मानेंगे! बाप कहते हैं अगर नहीं मानेंगे तो सतयुग में कैसे चल सकेंगे। अगर बाप का बच्चा नहीं तो कपूत ठहरे ना, फिर ठहर नहीं सकेंगे। उनका रहना मुश्किल हो पड़ेगा। हंस और बगुले हो गये, इकट्ठे कैसे रह सकेंगे। अच्छा कहाँ स्त्री पवित्र बनती। पति पवित्र नहीं बनता तो स्त्री पुकारती है। बाप कहते हैं बच्चे, तुमको सहन करना पड़ेगा। अच्छा जाकर काम करो, बर्तन मांजो। रोटी टुकड़ा ही तो चाहिए ना। विकार में जाने से तो बर्तन मांजना अच्छा है ना। बच्ची को लौकिक बाप भी एशलम नहीं देते हैं। वह भी कहेंगे हमने तेरा हाथ इसलिए बांधा है, विकार में जाना पड़े। परन्तु पारलौकिक बाप कहते हैं दे दान तो छूटे ग्रहण। 5 विकारों का दान दो तो ग्रहण उतरे। चन्द्रमा मुआफिक 16 कला सम्पूर्ण बन जायेंगे। श्रीकृष्ण 16 कला सम्पूर्ण है ना। अभी नो कला। अभी तो सब पतित हैं। कहते हैं ना – हम पतित हैं फिर कहो कि तुम नर्कवासी हो, तो बिगड़ते हैं। इस समय यथा राजा तथा प्रजा सब पतित हैं। सतयुग है श्रेष्ठाचारी। सतयुग में कोई रोता नहीं। तो तुमको यहाँ भी रोने का हुक्म नहीं। रोते हो गोया अवस्था की कमी है। जब बाप 21 जन्मों की बादशाही देते हैं। फिर रोने की क्या दरकार है, परन्तु यह भूल जाते हो। यह रोगी दुनिया है, भोगी दुनिया है। सतयुग निरोगी, योगी दुनिया है। यहाँ तो बाप को याद करना है। याद नहीं करते तो डिससर्विस करते हो क्योंकि वायुमण्डल खराब करेंगे। यहाँ तो सब हैं ही पतित। तो पतित को दान करने से तो पावन बन न सकें। पतित को दिया तो वह काम ही पतित करेंगे। यहाँ तो पतितों का पतितों के साथ व्यवहार है। वहाँ तो पावन का पावन के साथ व्यवहार होगा। व्यभिचारी अक्षर तो बुरा है ना। पहले भक्ति भी अव्यभिचारी थी। शिव की ही पूजा करते थे। पीछे देवताओं की भक्ति शुरू की, पीछे रजोगुणी भक्ति कहा जाता है। अभी तो मनुष्यों की पूजा करने लग पड़े हैं। सन्यासियों के चरण धोकर पीते हैं। मनुष्यों की पूजा को भूत पूजा कहा जाता है अर्थात् 5 तत्वों के बने हुए शरीर की पूजा। समझते कुछ भी नहीं। तब कहा जाता है अन्धे की औलाद अन्धे। तुम हो सज्जे की औलाद सज्जे। तो वह अन्धेरे में धक्के खाते रहते हैं। कहते हैं गुरू ब्रह्मा, गुरू विष्णु, गुरू शंकर… यह भी कहना रांग है। विष्णु तो है सतयुग में रहने वाला। वह तो अपनी प्रालब्ध भोगते हैं। बाकी है ब्रह्मा गुरू, वह भी तब जब इस तन में बाप आये। जब तक बाप नहीं आते हैं तब तक यह भी किस काम के।

बेहद का बाप कहते हैं जो मेरी श्रीमत पर चलता है वही मेरा सपूत बच्चा है। जैसे गवर्मेन्ट आर्डीनेन्स निकालती है, ऐसे यह पाण्डव गवर्मेन्ट भी आर्डीनेन्स निकालती है कि पवित्र बनेंगे तो पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। तो बाप कहते हैं कि देह सहित देह के सब संबंध भूल मामेकम् याद करो, इस शरीर से बुद्धियोग तुड़वाते हैं और आत्मा की परमात्मा से सगाई कराते हैं। तो बाप को याद करना चाहिए और शरीर से भी ममत्व निकालना है। मोहजीत की एक कहानी है ना, तो तुमको भी मोहजीत बनना है। यह है युद्ध का मैदान, इस युद्ध में जरा भी गफलत की तो माया हप कर लेती है। कहते हैं कि गज को ग्राह (मगरमच्छ) ने पकड़ा। कोई ऐसी बात नहीं कि गज अर्थात् हाथी कोई पानी में गया, ग्राह ने पकड़ लिया। नहीं, यह यहाँ की बात है। अच्छे-अच्छे महारथी हैं, बहुतों को समझाते भी हैं, सेन्टर्स भी सम्भालते हैं। अगर उन्होंने भी जरा गफलत की तो माया हप कर लेती है। ऐसा हप करती है जो बाप के संग से ही भगा ले जाती है। पुरानी दुनिया में चले जाते हैं इसलिए बड़ी सम्भाल रखनी पड़ती है क्योंकि माया से बॉक्सिंग है। और यह बिल्कुल समझने की बातें हैं। सिर्फ सत-सत करने की बात नहीं है। सत-सत तो भक्ति मार्ग में करते हैं कि फलाना नाक से पैदा हुआ, यह भी सत, हनूमान पवन से पैदा हुआ, हाँ जी सत्य। वह तो सब हैं भक्ति मार्ग की बातें। यहाँ तो ज्ञान की बातें हैं जो धारण करना है। माया से युद्ध करनी है। अगर बाप का बनकर कोई पाप कर्म किया तो और ही सौ गुणा दण्ड मिलेगा। तो बाबा बहुत खबरदार करते हैं। देखो, अब तो बापदादा सम्मुख बैठ पढ़ा रहे हैं। अब यह थोडेही कहेंगे हे भगवान। नहीं। शिवबाबा का बच्चा एक ब्रह्मा है फिर ब्रह्मा सो विष्णु बनते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) चन्द्रमा समान 16 कला सम्पन्न बनने के लिए 5 विकारों का पूरा दान दे ग्रहण से मुक्त हो जाना है।

2) बाप का बनकर कोई पाप कर्म नहीं करना है। शरीर से भी ममत्व निकाल मोहजीत बन जाना है।

वरदान:- ब्राह्मण जीवन में बधाईयों की पालना द्वारा सदा वृद्धि को प्राप्त करने वाले पदमापदम भाग्यवान भव 
संगमयुग पर विशेष खुशियों भरी बधाईयों से ही सर्व ब्राह्मण वृद्धि को प्राप्त कर रहे हैं। ब्राह्मण जीवन की पालना का आधार बधाईयां हैं। बाप के स्वरूप में हर समय बधाईयां हैं, शिक्षक के स्वरूप में हर समय शाबास-शाबास का बोल पास विद् आनर बना रहा है, सद्गुरू के रूप में हर श्रेष्ठ कर्म की दुआयें सहज और मौज वाली जीवन अनुभव करा रही हैं, इसलिए पदमापदम भाग्यवान हो जो भाग्यविधाता भगवान के बच्चे, सम्पूर्ण भाग्य के अधिकारी बन गये।
स्लोगन:- सच्ची सेवा द्वारा सर्व की आशीर्वाद प्राप्त करने वाले ही तकदीरवान हैं।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 19 October 2017 :- Click Here

 

Font Resize