bkmurli 19 january 2018

TODAY MURLI 19 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 January 2018 :- Click Here

19/01/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to make your intellects divine, understand very clearly the things that the Father explains. First imbibe these yourself and then inspire others to do the same.
Question: Which very deep and entertaining aspect should you understand very clearly?
Answer: How the incorporeal Father becomes everyone’s Mother and the Father and the method He uses to create the world is a very deep and entertaining aspect. The incorporeal Father cannot create the world without a mother. How He adopts a body by entering it, how He adopts you children through that one’s mouth, how Brahma is the father and also a mother are all aspects that have to be very clearly understood and remembered and kept in your consciousness.
Song: You are the Mother and the Father.

Om shanti. Of those you call mother and father, it is surely the father who gives instructions. This Mother and Father are combined. It is very difficult for human beings to understand this. Nevertheless, this is the main aspect to understand. The incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, who is called the Father is also called the Mother. This is a wonderful aspect. When the Supreme Father, the Supreme Soul, creates the human world, a mother is definitely needed. This aspect is so deep that it does not enter anyone’s intellect. He is the Father of all and so a mother is definitely needed. That Father is incorporeal, so whom should He adopt to be the mother? He doesn’t marry anyone. All of these aspects are extremely deep and entertaining. New ones cannot understand these things and, even though older ones do understand, they find it difficult to keep them in their consciousness. Only the children would remain in the consciousness of the Mother and Father. In Bharat, they address Lakshmi and Narayan as the Mother and the Father; they even go in front of the Radhe and Krishna idols and call them the Mother and the Father. Now, they are a prince and princess: even a senseless person would not call them mother and father. People have just formed the habit of saying this. However, this aspect is totally unique. Only the children of Lakshmi and Narayan would call them mother and father. People think that those who have a lot of wealth and live in mansions and palaces are in heaven. Their children would say that their parents have a lot of happiness. They must surely have performed good deeds in their previous birth. Achcha, when people sing: You are the Mother and Father, it is to the Supreme Father, the Supreme Soul, the one Creator that they sing this. He is the Incorporeal and we are His children. We souls are also incorporeal. So, then, how does the incorporeal One create the world? The world cannot be created without a mother. It is a wonder how the world is created. The wonder is that the Supreme Father is the Creator of the new world; He comes into the old world to create the new world but how does He create it? This is a very deep aspect. The incorporeal One is the one whom we call the Mother and Father. The Father explains: I adopt you children. It is not a question of children emerging from a womb. How could so many children emerge in that way? Therefore, He says: I adopt this body and then adopt you children through this one’s mouth. This Brahma is the father, the creator of the human world, and he is also the mother through whose mouth I adopt you children. It is only the Father’s task to adopt children in this way. Sannyasis cannot do this. They have seekers, followers and disciples. Here, it is an aspect of creation. Baba enters this one, and so it is the mouth-born creation who say: You are the Mother and Father. Therefore, this one is proved to be the mother. The Father enters this one and creates you. This old man is the Father of Humanity and so the mother also has to be elderly. It is an elderly one that is needed. You children now have to remember the Mother and Father. This one doesn’t have any property. You become heirs; that is why this one is called BapDada. You do not claim property from Prajapita Brahma. This Dada (Brahma) also claims it from that One. This one is called Dada as well as the mother. Otherwise, how could the Mother and Father be proved? The aspect about the Mother, the Father and the children is very deep and worth understanding and remembering. Baba, You are the Father; we have taken birth through this mother. We also definitely remember the inheritance. You have to remember that Father. With this knowledge, you are able to understand how the Father enters this impure world. He says: The one whom I enter is also My son. He is your father and also your mother, and so you become the children. You receive the inheritance by remembering the Father. You would not receive the inheritance by remembering the mother. You have to remember that Father constantly and forget this body. These aspects of knowledge need to be understood. The Father comes into the old world and creates the new world. He destroys the old one. Otherwise, who else would do that? It is remembered that destruction of the old world took place through Shankar. This too fixed in the drama, which is why it is remembered. You children understand that a new kingdom is being created for you. Full preparations for destruction have been made. There are so many of you and you are all claiming the kingdom. It is not that you have just accepted this with blind faith. Someone said that Rama’s Sita was abducted. People say: True! If you don’t understand something, you should ask and try to understand it. Otherwise, you would just remain senseless. You receive temporary happiness on the path of devotion. You receive short-lived fruit in that same birth or in the next birth for what you have done. When people go on a pilgrimage, they remain pure for that short time; they do not commit any sins. They also give donations and perform charity. That is called happiness like the droppings of a crow. Only you children can understand this, because you have changed from monkeys into being worthy of living in a temple. In the golden age you used to have divine intellects because that was the kingdom of divine gods and goddesses; there were palaces of gold. Now, there is nothing but stone. Who changes your divine intellects into stone intellects? Ravan, the form of the five vices. Only when everyone’s intellect has become stone does the Father make your intellects divine. The knowledge of the Seed and the tree is explained and understood easily. He explains the rest in detail and will continue to do so. In a nutshell, He says: Remember the Father, the One from whom you receive your inheritance. It is not necessary to remember the mother. The Father says: Children, remember Me! Surely, children, you must have taken birth through a mother. You took birth in order to claim your inheritance from the Father. Put aside this mother and put aside all bodily beings because you have to claim your inheritance from the Father. You children now understand that, as well as being children of physical parents, souls are also children of the spiritual Father. That unlimited Father creates the new world. Bharat was heaven. Lakshmi and Narayan were the masters of heaven; they are not that now. The unlimited Father explains that you have been receiving a limited inheritance every birth because there is only a limited inheritance in hell. In heaven, the inheritance will not be called limited. That inheritance is unlimited because you become masters of the unlimited, that is, of the entire world. There are no other religions there. Limited inheritances start with the copper age whereas in the golden age it is unlimited. There, you enjoy the fruition. There, you have the unlimited kingdom. As are the king and queen, so the subjects; the subjects too would say that they are masters of the entire world. People at present do not say that they are masters of the entire world. Now, there are a lot of limitations. They say: You cannot enter our water; this is our land. There, even the subjects will say that they are masters of the entire world, that their empress and emperor, Lakshmi and Narayan, are also the masters of the world. We now understand that there will only be one kingdom there. That sovereignty is unlimited. It is not in anyone’s intellect what Bharat was like previously. You children are now receiving instructions to take your inheritance from the unlimited Father. We are saying this, and we must therefore definitely be claiming it. The unlimited Father is the Creator of heaven. “Fortune for 21 generations” has been remembered. Why is the word ‘generations’ used? Because, there you only die when you are old; there is no untimely death. Women never become widows there. There is no weeping or wailing there. Here, there is so much weeping and wailing. There, even babies don’t cry. Here, they purposely make babies cry so that their lungs can expand. There is no such thing there. All of you children understand that we are claiming our inheritance from the unlimited Father just as we did in the previous cycle. Eight four births are now ending and it is time to return. Your sins will only be absolved by constantly remembering the Father and the inheritance. The meaning of ‘Mamanabhav’ is so easy! Although that Gita is false, there are a few things in it that are true. Remember Me your Father! Krishna doesn’t say: Remember me; you have to come to me! The Supreme Soul now tells you souls: All of you souls have to return like a swarm of mosquitoes. So, souls will definitely follow The Father, the Supreme Soul. Krishna is a bodily being; he wouldn’t say: Remember me, the soul! His name is Krishna. No soul can say this, because all souls are brothers. The Father says: I am the Incorporeal. My name is Shiva. How could Krishna say this? He has a body. Shiv Baba doesn’t have a body of His own. Shiv Baba says: You children didn’t have bodies at first either. You souls were incorporeal and then you adopted bodies. Now you have the awareness of the beginning, the middle and the end of the drama. How, when and why does the Father create the world? The world already existed, yet it is also remembered that a new world was made through Brahma. Therefore, He definitely made it from the old world. It is also said that human beings were made into deities. The Father says: I change you from human beings into deities through this study. You were worthy of worship deities and then you became worshippers. People do not understand how 84 births are taken. Will everyone take 84 births? The population of the world continues to increase, so how could everyone take 84 births? Surely, those who come later in the cycle take fewer births. How could anyone take 84 births within 25 to 50 years? This is the discus of self-realization, but they have portrayed this discus of self-realization as a weapon. You souls now have the awareness of how you have gone through 84 births. The cycle is now coming to an end; the drama is about to repeat. The original eternal deity religion that disappeared is now needed again. Human beings say: O God, the Father, have mercy! The Father says: Achcha, I liberate you from sorrow and make you happy. The Father’s task is to make everyone happy. That is why I come every cycle and make Bharat like a diamond. I make you all very happy and send all the rest to the land of liberation. Devotees also want to meet God so that they can be happy, but sannyasis have already said that happiness is like the droppings of a crow. The other thing they say is that they do not want to return and act in this drama. They want eternal liberation. However, they cannot receive eternal liberation; this drama is predestined. You children now understand the history and geography of the entire world and how the cycle turns. This is also called the cycle of self-realization. They portray everyone’s head being cut off by a discus, and they also show a play about the beheading of Kans. However, there is no such thing. Here, there is no violence. This is a study. You have to study and claim your inheritance from the Father. No one there murders his father in order to claim an inheritance; that is a limited inheritance, whereas here the inheritance you claim from the unlimited Father is unlimited. They have mentioned so many things about wars etc. in the Gita. There is nothing like that. In fact, the Pandavas do not fight anyone. It is through the power of yoga that you children claim your inheritance of the new world from the unlimited Father. There is no question of a war. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim your inheritance for 21 generations, constantly make effort to remember the Father and the inheritance. Do not remember any bodily beings.
  2. Continue to make your intellect spin the discus of self-realization: We were worthy of worship and we then became worshippers. We have completed the cycle of 84 births and the drama is now about to repeat again. From being worshippers, we have to become worthy of worship. To have this awareness means to spin the discus of self-realization.
Blessing: May you be immortal with your love and co-operation and always have the title of an imperishable jewel.
Those who are always loving and co-operative in the task of establishment receive the title of imperishable jewel. You are such imperishable jewels that no one can ever shake you and no obstruction can obstruct you. Only such imperishable jewels are blessed with the blessing of being immortal. They are real gold and the Father’s companions. They consider the Father’s task to be their own. They remain constantly with the Father and this is why they become imperishable.
Slogan: When you have the accurate dharna of purity, every action of yours is accurate and filled with wisdom (yuktiyukt).

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 19 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 January 2017

To Read Murli 18 January 2018 :- Click Here

19/01/18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – पारसबुद्धि बनने के लिए बाप जो समझाते हैं उसे अच्छी तरह से समझना है, स्वयं में धारणा कर दूसरों को कराना है”
प्रश्नः- कौन सा एक राज़ बहुत ही गुह्य, गोपनीय और समझने का है?
उत्तर:- निराकार बाप सभी का मात-पिता कैसे बनते हैं, वह सृष्टि की रचना किस विधि से करते हैं, यह बहुत ही गुह्य और गोपनीय राज़ है। निराकार बाप माता बिगर सृष्टि तो रच नहीं सकते। कैसे वह शरीर धारण कर, उसमें प्रवेश कर उनके मुख से बच्चे एडाप्ट करते हैं, यह ब्रह्मा पिता भी है तो माता भी है – यह बात बहुत ही समझकर सिमरण करने वा स्मृति में रखने की है।
गीत:- तुम्हीं हो माता….

ओम् शान्ति। जिसको मात-पिता कहते हो तो जरूर फरमान पिता ही करेंगे। यह तो माता पिता कम्बाइण्ड है। यह बात मनुष्यों के लिए समझना बड़ा डिफीकल्ट है और यही मुख्य बात है समझने की। निराकार परमपिता परमात्मा जिसको पिता कहा जाता है उनको माता भी कहते, यह वण्डरफुल बात है। परमपिता परमात्मा मनुष्य सृष्टि रचेगा, तो माता जरूर चाहिए। यह बात बड़ी गुह्य है और कोई की बुद्धि में कभी आ न सके। अब वह है सभी का बाप, माता भी जरूर चाहिए। वह पिता तो है निराकार, फिर माँ किसको रखे? शादी तो नहीं की होगी। यह हैं अति गुह्य गोपनीय समझने की बातें। नये-नये तो समझ न सकें। पुराने भी मुश्किल समझकर और उस स्मृति में रहते हैं। बच्चे ही मॉ बाप की स्मृति में रहेंगे ना। भारत में लक्ष्मी-नारायण को भी कह देते हैं तुम मात-पिता…तो राधे कृष्ण के आगे भी जाकर कहते – तुम मात-पिता… अब वह तो हैं प्रिन्स प्रिन्सेज। उन्हों को मात-पिता कोई बेसमझ भी न कहे। मनुष्यों की तो कहने की टेव (आदत) पड़ गई है। परन्तु यह बात ही न्यारी है। लक्ष्मी-नारायण को तो उनके बच्चे ही कहेंगे तुम मात-पिता…. मनुष्य समझते हैं जिसके पास बहुत धन है, महल-माड़ियॉ हैं वह स्वर्ग में हैं। उन्हों के बच्चे कहेंगे हमारे माँ बाप के पास बहुत सुख है। जरूर आगे जन्म में कुछ अच्छे कर्म किये हैं। अच्छा यह जो गाया जाता है तुम मात पिता… परमपिता परमात्मा रचयिता तो एक है, जिसके हम बच्चे हैं वह भी निराकार है। हम आत्मायें भी निराकार हैं। परन्तु निराकार फिर सृष्टि कैसे रचते हैं। माता बिगर तो सृष्टि रची नहीं जा सकती। वण्डर है सृष्टि रचने का। एक तो परमात्मा रचयिता है नई दुनिया का। पुरानी दुनिया में आकर नई दुनिया रचते हैं। परन्तु कैसे रचते हैं। यह बड़ी गुह्य बात है – जो निराकार को हम मात-पिता कहते हैं। बाप खुद समझाते हैं मैं बच्चों को एडाप्ट करता हूँ। पेट से बच्चे निकलने की बात ही नहीं। इतने ढेर बच्चे पेट से कैसे निकलेंगे। तो कहते हैं मैं इस शरीर को धारण कर इनके मुख द्वारा बच्चे एडाप्ट करता हूँ। यह ब्रह्मा पिता भी है, मनुष्य सृष्टि रचने वाला और माता भी है। जिसके मुख से बच्चे एडाप्ट करता हूँ। इस रीति बच्चों को एडाप्ट करना – यह सिर्फ बाप का काम है। सन्यासी तो कर न सकें। उन्हों के हैं जिज्ञासु, फालोअर्स, शिष्य। यहाँ तो हुई रचना की बात। तो बाबा इनमें प्रवेश करते, यह है मुख वंशावली जो कहते हैं तुम मात-पिता… तो माता यह सिद्ध हुई। वह बाप इसमें प्रवेश हो रचते हैं। यह बूढ़ा प्रजापिता भी ठहरा फिर माता भी बूढ़ी ठहरी। बूढ़ी ही चाहिए ना। अब बच्चों को मात-पिता को याद करना पड़े। इनकी तो प्रापर्टी है नहीं। तुम बनते हो वारिस, इसलिए इनको बापदादा कहते हैं। तुमको प्रजापिता ब्रह्मा से प्रापर्टी नहीं लेनी है। यह दादा (ब्रह्मा) भी उनसे लेते हैं। इनको दादा भी तो माता भी कहा जाता है। नहीं तो मात-पिता कैसे सिद्ध हो। मात-पिता बिगर बच्चे कैसे हों – यह बड़ी गुह्य समझने और सिमरण करने की बात है। बाबा आप पिता हो, इस माता द्वारा हमने जन्म लिया है। बरोबर वर्सा भी याद आता है। याद उस बाप को करना है। ज्ञान से तुम समझ भी सकते हो कि कैसे बाप पतित दुनिया में आते हैं। कहते हैं जिसमें प्रवेश करता हूँ, यह हमारा बच्चा भी है, तुम्हारा बाप भी है और फिर माता भी है। तुम हो गये बच्चे। तो बाप को याद करने से वर्सा मिलता है। माता को याद करने से वर्सा नहीं मिलेगा। निरन्तर उस बाप को याद करना है। बाकी इस शरीर को भूलना है। यह ज्ञान की बातें समझने की हैं।

बाप पुरानी दुनिया में आकर नई दुनिया रचते हैं। पुरानी को खलास कर देते हैं। नहीं तो कौन खलास करे। गाया भी हुआ है शंकर द्वारा पुरानी दुनिया का विनाश – यह ड्रामा में नूँध है इसलिए गायन में भी आता है। तुम बच्चे जानते हो हमारे लिए नई राजधानी बन रही है। विनाश की फुल तैयारियाँ हैं। तुम इतने ढेर हो, सब राजाई पद पा रहे हो। ऐसे नहीं अन्धश्रद्धा से मान लिया है। कोई ने कहा राम की सीता चुराई गई। सत। कोई भी बात न समझो तो समझने की कोशिश करो। नहीं तो बेसमझ के बेसमझ ही रह जायेंगे। भक्तिमार्ग में तो अल्पकाल का सुख मिलता है। उसका फल उस ही जन्म में वा दूसरे जन्म में अल्पकाल के लिए मिल जाता है। तीर्थ यात्रा पर जाते हैं, कुछ समय तो पवित्र रहते हैं, पाप नहीं करते। दान पुण्य भी करते हैं, इसको काग विष्टा के समान सुख कहा जाता है। यह तुम बच्चे ही समझ सकते हो क्योंकि तुम बन्दर से बदल मन्दिर लायक बने हो। सतयुग में तुम पारसबुद्धि थे क्योंकि पारसनाथ, पारसनाथिनी का राज्य था। सोने के महल थे। अब तो पत्थर ही पत्थर हैं। पारसबुद्धि से पत्थरबुद्धि कौन बनाते हैं? 5 विकार रूपी रावण। जब सब पत्थरबुद्धि बन पड़ते हैं तब ही फिर पारसबुद्धि बनाने वाला बाप आते हैं। कितना सहज समझकर समझाते हैं। बीज और झाड़। बाकी डिटेल तो समझाते रहते हैं, समझाते रहेंगे। नटशेल में कहते हैं बाप को याद करो, जिससे वर्सा मिलता है। माता को याद करने की जरूरत नहीं। बाप कहते हैं बच्चे मुझे याद करो तो जरूर बच्चों ने माता से जन्म लिया होगा? जन्म लिया, बाप से वर्सा लेने के लिए। तो इस माता को भी छोड़ो, सब देहधारियों को छोड़ो क्योंकि अब वर्सा बाप से लेना है। अब बच्चे समझ गये हैं कि हम आत्मा रूहानी बाप के बच्चे हैं और फिर जिस्मानी मात-पिता के भी बच्चे बने हैं। वह बेहद का बाप नई सृष्टि रचते हैं। भारत स्वर्ग था ना। यह लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग के मालिक थे, अब नहीं हैं। बेहद का बाप समझाते हैं – तुम हर जन्म में हद का वर्सा लेते आये हो। नर्क में तो है ही हद का वर्सा। स्वर्ग में हद का वर्सा नहीं कहेंगे। वह है बेहद का वर्सा क्योंकि बेहद के अर्थात् सारे सृष्टि के मालिक हैं और कोई धर्म नहीं है। हद का वर्सा शुरू होता है द्वापर से। सतयुग में है बेहद का। तुम प्रालब्ध भोगते हो। वहाँ तुमको बेहद की बादशाही है। यथा राजा रानी तथा प्रजा। प्रजा भी कहेगी हम सारे सृष्टि के मालिक हैं। अभी तो प्रजा ऐसे नहीं कहेगी कि हम सारे सृष्टि के मालिक हैं। अभी तो हदें लगी पड़ी हैं। वह कहते हैं हमारे पानी के अन्दर नहीं आ सकते, यह टुकड़ा हमारा है। वहाँ प्रजा भी कहेगी हम विश्व के मालिक हैं। हमारे महाराजा महारानी लक्ष्मी-नारायण भी विश्व के मालिक। यह अभी हम समझते हैं कि वहाँ एक ही राज्य रहता है। वह है बेहद की बादशाही। भारत क्या था, किसकी बुद्धि में भी नहीं है। तुम बच्चों को अब शिक्षा मिलती है कि बेहद के बाप से वर्सा लो। हम कहते हैं तो जरूर हम ले रहे हैं। बेहद का बाप है ही स्वर्ग का रचयिता। गाया भी जाता है 21 पीढ़ी राज्य-भाग्य। पीढ़ी क्यों कहते हैं? क्योंकि वहाँ बूढ़े होकर मरेंगे। वहाँ अकाले मृत्यु नहीं होगा। मातायें कभी विधवा नहीं बनेंगी। रोना पीटना नहीं होगा। यहाँ तो कितना रोते पीटते हैं। वहाँ बच्चों को भी रोने की दरकार नहीं। यहाँ तो बच्चों को रुलाते रहते हैं कि मुख बड़ा हो। वहाँ ऐसी बात नहीं। यह तो सब बच्चे समझते हैं कि हम अभी बेहद के बाप से कल्प पहले मिसल वर्सा ले रहे हैं। 84 जन्म पूरे हुए, अब जाना है। निरन्तर बाप और वर्से को याद करने से विकर्म विनाश होंगे। मन्मनाभव का अर्थ कितना सहज है। गीता भल झूठी है, परन्तु उसमें कुछ न कुछ तो सच है ना। मुझ अपने बाप को याद करो, कृष्ण तो ऐसे नहीं कहेंगे कि मुझे याद करो, तुमको मेरे पास आना है। परमात्मा अभी सर्व आत्माओं को कहते हैं कि तुम सभी आत्माओं को मच्छरों सदृश्य आना है। तो जरूर आत्मा, परमात्मा बाप को ही फालो करेगी। कृष्ण तो देहधारी हो गया। वह कह न सके। वह ऐसे नहीं कहेंगे कि मुझ आत्मा को याद करो। उनका नाम ही कृष्ण है। आत्मा कोई भी नहीं कह सकती, आत्मायें सभी भाई-भाई हैं। यह तो बाप कहते हैं मैं निराकार हूँ, मुझ परम आत्मा का नाम है शिव। तो कृष्ण कैसे कहेंगे। उनको तो शरीर है। शिवबाबा को तो अपना शरीर है नहीं। शिवबाबा कहते हैं बच्चे तुम्हें भी पहले अपना शरीर नहीं था। तुम आत्मा निराकार थी, फिर शरीर लिया है। अब तुमको ड्रामा के आदि मध्य अन्त की स्मृति आई है। बाप सृष्टि कैसे, कब और क्यों रचते हैं? सृष्टि तो है ना। गायन भी है ब्रह्मा द्वारा नई सृष्टि की रचना की। तो जरूर पुरानी सृष्टि से ही नई सृष्टि की रचना करते होंगे। कहते भी हैं मनुष्य से देवता बनाया। बाप कहते हैं मैं तुमको इस पढ़ाई से मनुष्य से देवता बनाता हूँ। पूज्य देवता थे, फिर पुजारी बन गये हो। मनुष्य तो समझते नहीं कि 84 जन्म कैसे लेते हैं। क्या सभी 84 जन्म लेंगे? सृष्टि वृद्धि को प्राप्त करती रहती है। तो सभी कैसे 84 जन्म लेंगे! जरूर जो पीछे आयेंगे उनके जन्म कम होंगे। 25-50 वर्ष के अन्दर 84 जन्म कैसे लेंगे? यह है स्वदर्शन पा। उन्होंने फिर स्वदर्शन चक्र को एक हथियार का रूप बना दिया है। अब तुम आत्माओं को यह स्मृति आई है कि हमने 84 जन्म ऐसे-ऐसे भोगे। अभी चक्र पूरा होता है, फिर से ड्रामा को रिपीट करना है। पहले-पहले आदि सनातन देवी-देवता धर्म जरूर चाहिए, जो प्राय:लोप हो गया है।

मनुष्य कहते हैं हे गॉड फादर रहम करो। तो बाप कहते हैं – अच्छा तुमको दु:ख से लिब्रेट कर सुखी बनाता हूँ। बाप का काम ही है सबको सुखी बनाना, इसलिए मैं कल्प-कल्प आता हूँ, आकर भारत को हीरे जैसा बनाता हूँ। बहुत सुखी बनाता हूँ। बाकी सबको मुक्तिधाम भेज देता हूँ। भक्त चाहते भी हैं भगवान से मिलने क्योंकि सुख के लिए तो सन्यासियों ने कह दिया है कि यह काग विष्टा समान सुख है और दूसरा फिर कहते इस ड्रामा के खेल में फिर आयें ही नहीं। मोक्ष को पा लें। अब मोक्ष तो मिलना नहीं है। यह है बना बनाया ड्रामा। सारे सृष्टि की हिस्ट्री-जॉग्राफी को तुम बच्चे अभी जानते हो कि यह कैसे चक्र लगाती है। जिसको ही स्वदर्शन चक्र कहा जाता है। यह जो दिखाते हैं स्वदर्शन चक्र से सभी के सिर काटे। कंस बध का नाटक दिखाते हैं। ऐसे कुछ भी है नहीं। यहाँ हिंसा की बिल्कुल बात ही नहीं। यह तो पढ़ाई है। पढ़ना है, बाप से वर्सा लेना है। बाप से वर्सा लेने के लिए किसको कतल करते हैं क्या? वह होता है हद का वर्सा, यह है बेहद के बाप से बेहद का वर्सा लेना। गीता में लड़ाई आदि की कितनी बातें लिख दी हैं। वह तो कुछ भी हैं नहीं। पाण्डवों की लड़ाई वास्तव में कोई के साथ है नहीं। यह तो योगबल से बेहद के बाप से तुम बच्चे वर्सा ले रहे हो, नई दुनिया के लिए। इसमें लड़ाई की कोई बात नहीं। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से 21 पीढ़ी का वर्सा लेने के लिए निरन्तर बाप और वर्से को याद करने का पुरुषार्थ करना है। किसी भी देहधारी को याद नहीं करना है।

2) बुद्धि में स्वदर्शन चक्र फिराते रहना है। हम पूज्य थे, फिर पुजारी बनें, 84 जन्मों का चक्र पूरा किया, फिर से ड्रामा रिपीट होना है, हमें पुजारी से पूज्य बनना है -यह स्मृति ही स्वदर्शन चक्र है।

वरदान:- सदा स्नेह और सहयोग द्वारा अविनाशी रत्न का टाइटल प्राप्त करने वाले अमरभव 
जो स्थापना के कार्य में सदा स्नेही और सहयोगी रहते हैं उन्हें अविनाशी रत्न का टाइटल मिल जाता है। ऐसे अविनाशी रत्न जो कभी कोई भी हिला न सके। कोई भी रूकावट रोक न सके। ऐसे अविनाशी रत्न ही अमरभव के वरदानी हैं। रीयल गोल्ड हैं, बाप के साथी हैं। वे बाप के कार्य को अपना समझते हैं। सदा साथ रहते हैं इसलिए अविनाशी बन जाते हैं।
स्लोगन:- पवित्रता की यथार्थ धारणा है तो हर कर्म यथार्थ और युक्तियुक्त होगा।
Font Resize