bkmurli 19 august 2017

TODAY MURLI 19 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 18 August 2017 :- Click Here

19/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, continue to churn knowledge and you will never become confused about anything. Always maintain the intoxication that incorporeal God, Himself, is the One who is teaching you.
Question: Which children can experience the imperishable intoxication of these jewels of knowledge?
Answer: Those who are poor children. Only poor children become multimillionaires through the Father; they can be threaded in the rosary. Wealthy people have the intoxication of their perishable wealth. At this time Baba doesn’t need multimillionaire children. Heaven is established with every penny of the poor children because it is the poor who have to become wealthy.
Song: Take us away from this world of sin to a place of rest and comfort.

Om shanti. Sweetest children of BapDada know that we are now going to such a place where there is no name or trace of sorrow, which is called the land of happiness. We were the masters of that land of happiness, of heaven. In the land of happiness, there was the golden age where the deities used to rule. You have now become Brahmins and are the mouth-born creation of Brahma. You even write: Shiv Baba c/o Brahma Kumaris. You also now know that this is truly your stage of ascent. You children now understand very clearly the stages of ascent and descent. You also understand that when Bharat was in the stage of ascent, the people there were called deities. It is now in the stage of descent and this is why they cannot be called deities. They now consider themselves to be human beings. They go to the temples and bow their heads in front of the deity idols. They believe that they truly did exist in the past. When? This, they don’t know. You can explain to anyone that 3000 years before Christ, Bharat was heaven. You children have now understood that the cycle definitely does have to turn; the impure world has to become pure. It is now in the intellects of you children that you are being changed from human beings into deities by the Father. You should have the intoxication that the Father is teaching you. It is also remembered: God speaks: I teach you Raja Yoga. They have simply made a mistake in that they have inserted the name of the child in place of the Father’s. Only you children understand this mistake. No one else understands it. It has entered the intellects of you children that you are once again becoming pure in order to go to your land of happiness from the land of peace. People sing: O Purifier, come! Only God, the Father, is the Purifier. No one can call Krishna that. Your intellects should continue to churn this. At school, children continue to churn the studies they have been taught. If you continue to churn this, you will never become confused. You know that it is now your stage of ascent. “Liberation-in-life in a second  is remembered. As soon as a child is born he receives a right to an inheritance. However, that isn’t the inheritance of liberation-in-life. Here, you receive your fortune of the kingdom of liberation-in-life. You definitely have to receive it from the Father. You also know that Bharat received the unlimited inheritance from the unlimited Father. It is now to receive it once again. You are now following shrimat and claiming your inheritance. On the path of devotion they continue to remember someone or other. The pictures of all of them are present. They are worshipped. The Father has explained this secret to you. A handful out of multimillions will understand these things very well and also have faith, whereas others will have doubts. You first have to explain about the relationship so that no one has any doubts. It is also mentioned in the Gita that God sat and explained everything to Arjuna. It is not possible that He would sit and teach Raja Yoga in a horse chariot. He would not sit and teach Raja Yoga in that way. That is a lie. They portray Brahma emerging from the navel of Vishnu and then they have shown Brahma with the scriptures in his hand. He cannot be in the subtle region. So, the essence would be explained here. You can explain using such pictures. These pictures will also definitely be useful for the exhibitions. It is not a question of the subtle region. Whom would He explain to through the mouth of Brahma? There, there is just Brahma, Vishnu and Shankar. So, to whom would He explain the essence of the scriptures? You know that all of that is the paraphernalia of the path of devotion. This path of devotion cannot exist in the golden and silver ages. That is the kingdom of deities. How could there be devotion there? Devotion takes place later on. You children know that only those whose intellects have faith become victorious. If you have faith in the Father, you definitely receive the sovereignty. The Father sits here and explains: I am the One who establishes heaven. I am the One who purifies the impure. You would never say that Shiva is Shyam Sunder (the Ugly One and the Beautiful One). Only Krishna is called Shyam and Sundar. Only you children understand that Shiva doesn’t enter the cycle. He cannot be shown as beautiful and ugly. The Father explains: It is now the stage of ascent of you children. From being ugly, you have to become beautiful. Bharat was beautiful; why has it now become ugly? By sitting on the pyre of lust. It is also remembered that lust burnt the children of the ocean and destroyed them. The Father is now enabling you to sit on the pyre of knowledge. You are being showered with knowledge. You also understand that this is the only place where you have the company of the Truth. The Supreme Father, the Supreme Soul, who establishes heaven, is called the Lord of Immortality. So, He would definitely sit here and explain to the children. Would He sit on the mountains and explain to just one Parvati? He has to make the whole of the impure world pure. It is not a question of just one. You know that you were the masters of the pure world and that you will become the masters once again. It is also explained to you in the picture of the tree that the smaller branches emerge at the end. All of them are the small sects and cults. Very beautiful leaves emerge first. When a tree reaches its state of decay, there are no more new leaves and it doesn’t bear fruit. The Father continues to explain everything to you children very clearly. Your battle is with Maya. The status you receive is so high. Therefore, some effort surely has to be made. You have to study and also become pure. For half the cycle, it has been the kingdom of Ravan and it is now to become the kingdom of Rama. People say that there should be the kingdom of Rama but they don’t know how or when that will be. These things are not mentioned in the scriptures. They show that the Pandavas melted away on the mountains. OK, so what happened then? Annihilation doesn’t take place. On the one hand they show that the Father teaches Raja Yoga. He says: You will become kings of kings in the future. However, they then show that the Pandavas too were destroyed. How could that be possible? How would the new world be established? Where would Shri Krishna come from? Brahmins are definitely needed. You know that you are making effort to go to the new world. You come here to the Ocean of Knowledge to be refreshed. There, you listen to the Ganges of knowledge. They have a lake at Amarnath called Mansarovar. They say that by bathing in that, you become angels. In fact, this is the Mansarovar of knowledge. The Father, the Ocean of Knowledge, sits here and bathes you in knowledge through which you become the angels of Paradise. Hearing the name, “angels”, they have shown human beings with wings. In fact, there is no question of wings etc. The wings with which souls can fly are now broken. Look what they have written in the scriptures!

[wp_ad_camp_5]

 

This one has studied many scriptures. The Father also says to him: You don’t know your own births. I come and enter you at the end of the last of your many births. Krishna is the first birth of the golden age. After their marriage, they become Lakshmi and Narayan. At the end of his many births the one who was Shri Narayan has now become ordinary. Therefore, He definitely has to enter his body. Some ask: How can God enter the impure world? Because of not understanding this, they have inserted Shri Krishna’s name. He is the purest of all, but not everyone would believe Shri Krishna to be God. God is incorporeal. His name, Shiva, is very well known. Prajapita Brahma (Father of Humanity) exists here. In the subtle region there are Brahma, Vishnu and Shankar. This too has to be explained very clearly. This has to be imbibed very well. You should remind one another of this: Are you remembering Baba? Are you remembering the cycle of 84 births? We are now going home. This is the old world. We now have to renounce our old costumes. We are now becoming ready for the new world. There isn’t any intoxication of the old world. This is the intoxication of the imperishable jewels of knowledge. It is difficult to break that other intoxication. The intoxication of the poor can be broken. The Father says: I am the Lord of the Poor. It is the poor who come here. Nowadays, only millionaires are said to be wealthy. Those who have hundreds of thousands are not called wealthy. They would not be able to take this knowledge. The Father says: I don’t need millions or billions. What would I do with that? I have to establish the sovereignty with every penny of the poor. I am also a shrewd Businessman. I would not just take anything unnecessarily that I would have to give a return of it. You have an exchange with Him and this is why He is called the Innocent Lord. Only the poorest of the poor are threaded in the rosary. Everything depends on the efforts you make. There is no question of money in this. The poor pay good attention to their studies. There is just the one study. It is the poor who study well, because the wealthy have intoxication of their wealth. You children know that you were the masters of heaven and that you have now become poverty-stricken. The Father has now come. The cycle of 84 births definitely has to turn. Rebirth will also be proved. Only you long-lost and now-found children go around the cycle of 84 births. Only you know this; no one else knows it. You know that this cycle is now to end and that you have to return home. You have to revise your study. If you have a picture put up, you will remember the cycle when you see it. Some songs are very good; they make you intoxicated when you hear them. You now belong to Shiv Baba. You are now receiving your inheritance from the Incorporeal through the corporeal. How could the incorporeal One give it to you unless He came in a corporeal form? Therefore, He says: I enter this one at the end of his many births. Prajapita (Father of Humanity) has to exist here. The name of Brahma is also very well known – Brahma’s mouth-born creation. The somersault has also been explained to you children. We are now Brahmins and will then become deities. You can see the topknot. At the top is Shiv Baba, the Star. He is so subtle. He isn’t such a big lingam. They have just created that for worship. When they create a sacrificial fire, they make one large Shivalingam and many smaller saligrams. Wealthy people make many of them. All of that starts on the path of devotion with the copper age. There are 16 degrees then 14 degrees and then the degrees continue to decrease until now, when no degrees remain. The Father now sits here and explains to you. The Father doesn’t give you any other difficulty. Continue to note down for how long you remembered the Husband of all husbands. The engagement has to be unadulterated. Forget all your friends and relatives. Have love for only the One. You have to go from this ocean of poison to the ocean of milk. Souls are sitting in the element of brahm. They show Vishnu in an ocean of milk. Vishnu and Brahma. He explains to you through Brahma and you then go to the land of Vishnu, the ocean of milk. The Father now says: Constantly remember Me alone. He doesn’t give you any other difficulty. He simply says: O souls: Remember Me. I sent you to play your part s. He reminds you: You came naked, bodiless. First of all, you became deities and went to heaven. Since God is the Father of all, everyone should go to heaven. However, not those of all religions can go there. Only the deities have taken 84 births. They are the ones who have to go there. No one apart from you can know these things. Only those with good intellects will imbibe this. There is very little time. Therefore, simply consider yourself to be a soul. I shed a body and take another. The 84 births are now complete. This is now the final birth. The soul will become real gold. In the golden age the jewellery was real; it is now all false. You are now sitting on the pyre of knowledge and becoming beautiful. If you remember Him in every breath, you will have that stage at the end. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to go to the ocean of milk, have true love for the one Father. Stay in unadulterated remembrance of One and remind everyone else of the one Father.
  2. Don’t have intoxication of perishable wealth. Maintain permanent intoxication of the wealth of knowledge. Claim a high status through this study.
Blessing: May you become pure, clean and constructive and put a full stop to the past with the power of transformation.
With the power of transformation, first of all transform your form: I am not a body, I am a soul. Then transform your nature; your old nature can deceive you in your effort-making life, so transform your old nature. Then, there is the transformation of thoughts: transform waste thoughts into powerful thoughts. In this way, put a full stop to the past with the power of transformation and you will naturally become pure, clean and constructive.
Slogan: Let the tilak of awareness constantly sparkle on your forehead; this is the sign of a true bride (suhaag).

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 17 August 2017 :- Click Here

 

Brahma kumaris murli 19 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 August 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 18 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 19/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

 

19/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – पढ़ाई का सिमरण करते रहो तो कभी भी किसी बात में मूँझेंगे नहीं, सदा नशा रहे कि हमें पढ़ाने वाला स्वयं निराकार भगवान है”
प्रश्नः- इन ज्ञान रत्नों का अविनाशी नशा किन बच्चों को रह सकता है?
उत्तर:- जो गरीब बच्चे हैं। गरीब बच्चे ही बाप द्वारा पदमा-पदमपति बनते हैं। वह माला में पिरो सकते हैं। साहूकारों को तो अपने विनाशी धन का नशा रहता है। बाबा को इस समय करोड़पति बच्चे नहीं चाहिए। गरीब बच्चों की पाई-पाई से ही स्वर्ग की स्थापना होती है क्योंकि गरीबों को ही साहूकार बनना है।
गीत:- इस पाप की दुनिया से….

ओम् शान्ति। मीठे मीठे बापदादा के बच्चे जानते हैं कि हम अभी ऐसी जगह में चल रहे हैं, जहाँ दु:ख का नाम निशान ही नहीं, जिसका नाम ही है सुखधाम। हम उस सुखधाम वा स्वर्ग के मालिक थे। सुखधाम में तो सतयुग ही था, देवी-देवताओं का राज्य था। अभी जो तुम ब्राह्मण बने हो, तो तुम हो ब्रह्मा मुख वंशावली। तुम लिखते भी हो – शिवबाबा केयरआफ ब्रह्माकुमारीज़। यह भी तुम अभी जानते हो बरोबर हमारी चढ़ती कला है। चढ़ती कला और उतरती कला को तुम बच्चों ने अच्छी रीति समझा है। तुम यह भी समझते हो भारत जब चढ़ती कला में था तब उन्हों को देवी-देवता कहते थे। अभी उतरती कला में है, इसलिए उन्हें देवी-देवता कह नहीं सकते। अभी अपने को मनुष्य समझते हैं। मन्दिरों में जाकर देवी-देवताओं के आगे माथा टेकते हैं। समझते हैं यह होकर गये हैं। कब? यह नहीं जानते। तुम किसको भी समझा सकते हो – क्राइस्ट से 3 हजार वर्ष पहले भारत स्वर्ग था। तुम बच्चे समझ गये हो कि चक्र को अब फिरना ही है। पतित दुनिया को पावन बनना ही है। अभी तुम बच्चों की बुद्धि में है हम बाप द्वारा मनुष्य से देवता बन रहे हैं। बाप पढ़ाते हैं यह नशा चढ़ना चाहिए ना। गाया भी हुआ है भगवानुवाच – मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। सिर्फ यह भूल कर दी है जो बाप के बदले बच्चे का नाम डाल दिया है। इस भूल को भी तुम बच्चे ही समझते हो और कोई समझते नहीं।

अभी तुम बच्चों की बुद्धि में आया है कि हम फिर से अपने शान्तिधाम से सुखधाम जाने के लिए पावन बन रहे हैं। गाते भी हैं पतित-पावन आओ। पतित-पावन तो गॉड फादर ही ठहरा। कृष्ण को तो कह नहीं सकते। यह बुद्धि में सिमरण करते रहना है। स्कूल में बच्चों की बुद्धि में पढ़ाई का सिमरण चलता है ना। तुम भी अगर यह सिमरण करते रहेंगे तो कभी मूँझेंगे नहीं। जानते हो अब हमारी चढ़ती कला है। सेकेण्ड में जीवनमुक्ति भी गाई हुई है। बच्चा पैदा हुआ और वर्से का हकदार बना। परन्तु वह कोई जीवनमुक्ति का वर्सा नहीं है। यहाँ तुमको जीवनमुक्ति का राज्य भाग्य मिलता है। बाप से मिलना भी जरूर है। यह भी जानते हो बेहद के बाप से भारत को बेहद का वर्सा मिला था, अब फिर मिलना है। अब तुम श्रीमत पर चलकर वर्सा पा रहे हो। भक्ति मार्ग में किसी न किसी को याद ही करते रहते हैं। चित्र भी सबके मौजूद हैं, पूजे जाते हैं ना। यह भी राज़ बाप ने समझाया है। इन बातों में कोटों में कोई तो अच्छी रीति समझेंगे और निश्चय करेंगे, फिर कोई संशय उठायेंगे। कोई को संशय न आये इसलिए पहले सम्बन्ध की बात समझानी है। गीता में भी है ना – अर्जुन को भगवान ने बैठ समझाया। अब घोड़े-गाड़ी में बैठ राजयोग सिखावे, यह तो हो नहीं सकता। ऐसे थोड़ेही बैठ राजयोग सिखायेंगे। अब यह तो झूठ हो गया। दिखाते हैं विष्णु की नाभी से ब्रह्मा निकला और फिर ब्रह्मा के हाथ में शास्त्र दे दिये हैं। सूक्ष्मवतन में तो हो न सके। तो यहाँ ही सार समझायेंगे ना। ऐसे ऐसे चित्रों पर तुम समझा सकते हो। प्रदर्शनी में भी यह चित्र काम में आयेंगे जरूर। सूक्ष्मवतन की तो बात ही नहीं। ब्रह्मा मुख द्वारा किसको समझावें? वहाँ तो हैं ही ब्रह्मा, विष्णु, शंकर। तो शास्त्रों का सार किसको समझावें? तुम जानते हो यह सब भक्ति मार्ग के कर्मकान्ड हैं। सतयुग त्रेता में यह भक्ति मार्ग तो हो नहीं सकता। वहाँ है ही देवताओं की राजधानी। भक्ति कहाँ से आ सकती। यह भक्ति तो बाद में होती है। तुम बच्चे जानते हो निश्चयबुद्धि ही विजयी होते हैं, बाप में निश्चय रखेंगे तो जरूर बादशाही मिलेगी। बाप बैठ समझाते हैं मैं स्वर्ग की स्थापना करने वाला, पतितों को पावन बनाने वाला हूँ। शिव को कभी गोरा, सांवरा नहीं कहेंगे। कृष्ण को ही श्याम सुन्दर कहते हैं। यह भी बच्चे समझते हैं – शिव तो चक्र में आता नहीं है। उनको गोरा वा सांवरा दिखा न सकें। बाप समझाते हैं तुम बच्चों की अब चढ़ती कला है। सांवरे से गोरा बनना है। भारत गोरा था – अब काला क्यों बन गया है! काम चिता पर बैठने से। यह भी गायन है सागर के बच्चों को काम ने जलाए भस्म कर दिया। अब बाप तुम्हें ज्ञान चिता पर बिठाते हैं। तुम्हारे ऊपर ज्ञान की वर्षा होती है। यह भी समझते हो यह एक ही सत का संग है। परमपिता परमात्मा जो स्वर्ग की स्थापना करने वाला है, उनको अमरनाथ भी कहते हैं तो जरूर यहाँ बच्चों को बैठ समझायेंगे ना! पहाड़ पर सिर्फ एक पार्वती को बैठ सुनायेंगे क्या? उनको तो सारी पतित दुनिया को पावन बनाना है। एक की तो बात नहीं है। तुम जानते हो हम ही पावन दुनिया के मालिक थे फिर हम ही बनेंगे। झाड़ के ऊपर भी समझाया है कि पिछाड़ी में भी छोटी-छोटी टालियां निकलती हैं। यह सब हैं छोटे-छोटे मठ पंथ। पहले-पहले बहुत खूबसूरत पत्ते निकलते हैं। जब झाड़ की जड़जड़ीभूत अवस्था होती है तो फिर नये पत्ते भी नहीं निकलेंगे और न फल निकलेंगे। हर एक बात बाप बच्चों को अच्छी रीति समझाते रहते हैं। लड़ाई भी तुम्हारी माया के साथ है। इतना ऊंच पद है तो जरूर कुछ मेहनत करेंगे ना! पढ़ना भी है, पवित्र भी बनना है। आधाकल्प रावणराज्य चला है और अब रामराज्य होना है। कहते भी हैं रामराज्य हो। परन्तु यह पता नहीं कि कब और कैसे होगा? शास्त्रों में तो यह बातें हैं नहीं। दिखाते हैं पाण्डव पहाड़ों पर गल मरे। अच्छा फिर क्या हुआ? प्रलय तो होती नहीं। एक तरफ दिखाते हैं कि बाप राजयोग सिखलाते हैं। कहते हैं तुम भविष्य में राजाओं का राजा बनेंगे और फिर दिखलाते हैं पाण्डव खत्म हो गये। यह कैसे हो सकता! नई दुनिया की स्थापना कैसे होगी? श्रीकृष्ण कहाँ से आये? जरूर ब्राह्मण चाहिए।

तुम जानते हो हम नई दुनिया में जाने का पुरुषार्थ कर रहे हैं। यहाँ ज्ञान सागर के पास रिफ्रेश होने आते हैं। वहाँ ज्ञान गंगाओं द्वारा सुनते हो। अमरनाथ पर एक तलाव दिखाते हैं जो मानसरोवर है। कहते हैं उसमें स्नान करने से परीज़ादा बन जाते हैं। वास्तव में यह है ज्ञान मानसरोवर। ज्ञान सागर बाप बैठ ज्ञान स्नान कराते हैं, जिससे तुम बहिश्त की परियां बन जाते हो। परियां नाम सुन ऐसे पंख वाले मनुष्य बना दिये हैं। वास्तव में पंख आदि की बात है नहीं। आत्मा के उड़ने के पंख अब टूट गये हैं। शास्त्रों में तो क्या-क्या बातें लिख दी हैं। यह भी बहुत शास्त्र पढ़ा हुआ है। इनको भी बाप कहते हैं, तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। मैं तुम्हारे बहुत जन्मों के अन्त के जन्म में प्रवेश करता हूँ। कृष्ण तो है ही सतयुग का पहला जन्म। स्वयंवर के बाद फिर लक्ष्मी-नारायण बन जाते हैं। तो जो श्री नारायण था, वह बहुत जन्मों के अन्त में अब साधारण है। फिर जरूर उनके ही तन में आना पड़े। कई कहते हैं भगवान पतित दुनिया में कैसे आयेंगे! न समझने कारण श्रीकृष्ण का नाम डाल दिया है, जो सबसे पावन है। परन्तु श्रीकृष्ण को सब भगवान मानेंगे नहीं। भगवान तो है निराकार। उनका नाम शिव मशहूर है। प्रजापिता ब्रह्मा तो यहाँ है। सूक्ष्मवतन में तो ब्रह्मा विष्णु शंकर हैं। यह भी अच्छी रीति समझाना चाहिए। धारणा बहुत अच्छी चाहिए। आपस में एक दो को यह याद दिलाना चाहिए। बाबा को याद करते हो, 84 के चक्र को याद करते हो। अब घर जाते हैं। यह पुरानी दुनिया, पुराना वस्त्र सब त्याग करना है। अभी हम नई दुनिया के लिए तैयार हो रहे हैं। पुरानी दुनिया का नशा नहीं रहता। यह है अविनाशी ज्ञान रत्नों का नशा, वो नशा टूटना मुश्किल होता है। गरीबों का नशा टूट जाता है। बाप कहते हैं – मैं गरीब निवाज़ हूँ, आते भी गरीब हैं। आजकल तो करोड़पति को ही पैसे वाला कहा जाता है। लखपति को पैसे वाला नहीं कहेंगे। वह तो यह ज्ञान उठा नहीं सकेंगे। बाप कहते हैं हमको करोड़ अरब तो चाहिए ही नहीं। क्या करेंगे! हमको गरीबों के पैसे-पैसे से स्वराज्य की स्थापना करनी है। हम पक्का व्यापारी भी हैं। ऐसे थोड़ेही फालतू लेंगे जो फिर देना पड़े। तुम्हारा मट्टा सट्टा है इसलिए भोलानाथ कहा जाता है। गरीब से गरीब ही माला में पिरोये जाते हैं। सारा मदार पुरुषार्थ पर है, इसमें पैसे की बात नहीं। पढ़ाई की बात में गरीब अच्छा ध्यान देंगे। पढ़ाई तो एक है ना। गरीब अच्छा पढ़ेंगे क्योंकि साहूकारों को तो पैसे का नशा रहता है।

[wp_ad_camp_5]

 

तुम बच्चे जानते हो हम स्वर्ग के मालिक थे, अब कंगाल हैं। अब बाप आया है 84 का चक्र तो जरूर लगना है। पुनर्जन्म भी सिद्ध करेंगे। तुम सिकीलधे बच्चे ही 84 के चक्र में आते हो। यह भी तुम जानते हो और कोई को पता नहीं है। तुम जानते हो चक्र पूरा होता है, अब घर वापिस जाना है। पढ़ाई को दोहराना है। चित्र रखा होगा तो देखकर चक्र याद आयेगा। गीत भी कोई-कोई बहुत अच्छे हैं, सुनने से नशा चढ़ता है। तुम अब शिवबाबा के बने हो, वर्सा तुमको अब निराकार से मिल रहा है, साकार द्वारा। निराकार कैसे दे जब तक साकार में न आये। तो कहते हैं मैं इनके बहुत जन्मों के अन्त में प्रवेश करता हूँ। प्रजापिता भी यहाँ चाहिए ना। ब्रह्मा का नाम मशहूर है, ब्रह्मा मुख वंशावली। बच्चों को बाजोली भी समझाई है। हम अभी ब्राह्मण हैं, फिर देवता बनेंगे। चोटी देखने में आती है। ऊपर में है शिवबाबा स्टार, कितना सूक्ष्म है। इतना बड़ा लिंग नहीं है, यह तो पूजा के लिए बनाया है। रूद्र यज्ञ रचते हैं तो एक बड़ा शिवलिंग और छोटे-छोटे सालिग्राम बनाते हैं। साहूकार लोग बहुत बनाते हैं। यह सब भक्ति मार्ग में शुरू होता है द्वापर से। पहले होती हैं 16 कलायें, फिर 14 कलायें, फिर कलायें कम होते-होते अभी कोई कला नहीं रही है। यह बाप बैठ समझाते हैं। बाप और कोई तकलीफ नहीं देते हैं। नोट करते जाओ, पतियों के पति को कितना टाइम याद किया! अव्यभिचारी सगाई चाहिए ना। मित्र-सम्बन्धी आदि सब भूल जायें। एक से ही प्रीत रखनी है। इस विषय सागर से क्षीरसागर में जाना है। आत्माओं की बैठक तो ब्रह्म तत्व में है। क्षीरसागर में विष्णु को दिखाते हैं। विष्णु और ब्रह्मा। ब्रह्मा द्वारा तुमको समझाते हैं फिर तुम विष्णुपुरी क्षीरसागर में चले जाते हो। अब बाप कहते हैं मामेकम् याद करो और कोई तकलीफ नहीं देते हैं। सिर्फ कहते हैं – हे आत्मायें मुझे याद करो। मैंने तुमको पार्ट बजाने भेजा था। तुमको याद दिलाते हैं – नंगे (अशरीरी) आये थे। पहले-पहले तुम देवता बन स्वर्ग में आये। भगवान जब सबका बाप है तो सबको स्वर्ग में आना चाहिए ना! परन्तु सब धर्म तो आ नहीं सकते। 84 जन्म देवताओं ने ही लिये हैं। उन्हों को ही आना है। यह सब बातें तुम्हारे सिवाए और कोई जान न सके। अच्छी बुद्धि वाले ही धारणा करेंगे। थोड़ा समय है सिर्फ अपने आपको आत्मा समझो। हम एक शरीर छोड़ दूसरा लेता हूँ, 84 जन्म पूरे हुए। अब यह अन्तिम जन्म है। आत्मा सच्चा सोना बन जायेगी। सतयुग में सच्चा जेवर थे, अब सब झूठे हैं। अब फिर तुम ज्ञान चिता पर बैठे हो, गोरा बनते हो। श्वॉसों श्वॉस याद करेंगे तो वह अवस्था अन्त में होगी। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) क्षीरसागर में जाने के लिए एक बाप से ही सच्ची प्रीत रखनी है। एक की ही अव्यभिचारी याद में रहना है और सबको एक बाप की याद दिलानी है।

2) विनाशी धन का नशा नहीं रखना है। ज्ञान धन के नशे में स्थाई रहना है। पढ़ाई से ऊंच पद पाना है।

वरदान:- परिवर्तन शक्ति द्वारा बीती को बिन्दी लगाने वाले निर्मल और निर्माण भव 
परिवर्तन शक्ति द्वारा पहले अपने स्वरूप का परिवर्तन करो, मैं शरीर नहीं, आत्मा हूँ। फिर स्वभाव का परिवर्तन करो, पुराना स्वभाव ही पुरूषार्थी जीवन में धोखा देता है, तो पुराने स्वभाव अर्थात् नेचर का परिवर्तन करो। फिर है संकल्पों का परिवर्तन। व्यर्थ संकल्पों को समर्थ में परिवर्तन कर दो। इस प्रकार परिवर्तन शक्ति द्वारा हर बीती को बिन्दी लगा दो तो निर्मल और निर्माण स्वत: बन जायेंगे।
स्लोगन:- मस्तक पर स्मृति का तिलक सदा चमकता रहे-यही सच्चे सुहाग की निशानी है।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 17 August 2017 :- Click Here

Font Resize