bkmurli 17 october 2017

TODAY MURLI 17 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 17 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 16 October 2017 :- Click Here

17/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, have regard for one another. Don’t consider yourselves to be very clever. Keep it in your intellects that whatever actions you perform, others who see you will do the same.
Question: In order to make which stage firm is a lot of effort required?
Answer: While living at home with your family, the awareness of husband and wife should completely end. There shouldn’t be any such awareness in your mind. We souls are brothers. The children of Prajapita Brahma are brothers and sisters. It takes time to make this stage firm. While living together, the fire of vice should not ignite. There should be no criminal assault. Practise this. Remember the Mother and Father who are the Saccharine of all relationships.
Song: Even though the world may change (turn away), we will never turn away.

Om shanti. This is the guarantee or promise of the children. A promise is not made in words. When children recognise the Father, a promise is made anyway. Each one makes independent effort to claim a status. Each one makes independent effort at school to claim a high status. Here, souls study and the Supreme Soul becomes a living being (enters a body) in order to teach us. He enters this one and teaches him (Brahma) and the mouth-born creation of Brahma. Brahma himself would not be called a mouth-born creation. Brahmins are the mouth-born creation of Brahma. Brahma is not the mouth-born creation of Shiva. Shiv Baba comes and enters him and makes him belong to Him. He is also a creation. He first creates Brahma. He doesn’t create Vishnu first. Brahma, Vishnu and Shankar are remembered. It is not said: Vishnu, Shankar and Brahma. He first creates Brahma. The occupation of Brahma is distinct. All of these things have to be understood. You say to this One: You are the Mother and the Father. Therefore, He is incorporeal. A mother and father are needed in a corporeal form and that is why you ask: Does Mama have a mother? The answer would be “Yes”. Brahma is also the mother of Mama. Brahma doesn’t have a mother. Because this mother (Brahma) is not a female, Saraswati is called Mama. The Father is teaching and so this one also studies. Just as you are students, so this one too is a student. Shiv Baba is not a s tudent. You children can see the status of Brahma, who studies the most. You can see that he truly is the closest. Whose ears hear Him first? This Brahma is the closest of all. It would be said that Mama and Baba study the most and then all the children study, numberwise, although Baba says that the child Jagdish explains even better than Mama and Baba. He studies the murli, imbibes it and then writes the magazine of the Gita etc. because he has studied all the scriptures etc. He is also clever in English. This is called giving regardStudents have to give regard to one another. Baba also maintains regard. Therefore, you should follow the father, although no one has become 16 celestial degrees yet; it is numberwise. Everyone makes one mistake or another. This is why you mustn’t consider yourself to be too clever. Whatever actions the father or I perform, others who see that will do the same. Therefore, you have to give regard to one another. Baba also has to give regard. People say that you make husband and wife into brother and sister. Intelligent children would quickly say that all are the children of God and so they are all brothers and sisters. The children of Prajapita Brahma are brothers and sisters. It is good to become brothers and sisters. If you become Baba’s children, you are able to claim the inheritance. You are to receive the inheritance from Shiv Baba through Brahma Baba. So, you have to become Brahma Kumars and Kumaris. You must not then indulge in vice. Otherwise, that would be a criminal assault. Baba explains to you so clearly. He also gives you the methods to become pure. The wife says “Baba” and the husband also says “Baba”. Therefore, the consciousness of ‘husband and wife’ would be broken. People say that the world was established through Adam and Eve, and so all are their children; so all are brothers and sisters. There isn’t as much effort for kumars and kumaris. Those who have climbed the ladder also have to come down. It takes effort to come down. It isn’t that you both have to live separately, but just live as companions instead. No one in the golden age is impure. There, they don’t have to wait for children to be born. Here, they sometimes have to wait. There, according to the time, they automatically have a vision. People wonder how this can happen. How could the people here who are completely vicious understand how people there are viceless? There is no body consciousness there. Here, there is body consciousness. People cry so much when someone sheds his body. There is no crying there. There, someone has a vision at the time he or she is to shed the body and become a prince. Here, too, you have a vision that you will go and become an emperor or empress in the future. You see a child like Krishna in your lap. You don’t understand from a vision whether someone will become a sun-dynasty or a moon-dynasty emperor or empress because these are completely new things. This is why it is said: First of all, recognise the Father. The Father says: Look how lovely I am! The Father says: I am the s accharine of all relationships. I tell you to remember Me. People say: You are the Mother and the Father. Faith in each and every thing has to be instilled. However, there are doubts in one thing or another and then the royal status cannot be claimed. Therefore, the Father says: Manmanabhav. Remember the Father and you are then His lovers. These are the spiritual lovers and the Beloved. Make it firm that you souls are lovers of the Supreme Soul. Krishna cannot be everyone’s beloved. Not everyone remembers Krishna. This Father says: Manmanabhav. You now have to come to Me. The play is to end and you have to return home. So, the home would definitely be remembered. You continue to receive an explanation about everything in the murli. Some children don’t note down the things from the murli and then they continue to ask Baba the same things. The main thing is of the lovers and the Beloved. All devotees are lovers because they remember the Supreme Soul. They say: Mine is One and none other. You children hear all new things at this time. However, as you listen to them, Maya slaps you. Ravan is no less. The Father is the Almighty Authority and Maya is also an almighty authority. The kingdom of Maya continues for half the cycle. The Father now says: Make a donation of the five vices and the omens will be removed. However, in spite of that, they are not completely removed. Some make a donation and then take it back. This is not a question of money, but a question of vice. Sages and holy men say about money that you shouldn’t donate it and then ask for it back, because their income is in that. Some people go to sannyasis and ask for a child. He would reply: You will receive a child through my blessings. When they do have a child, he would say that he gave the child. If the child dies, he would say that that is destiny! If something is accomplished for one, many would have faith in him. Their expansion takes place in this way. On the one hand, they praise themselves and on the other hand, they say that it is destiny. At this time you are unknown warriors. Those people make memorials of those unknown warriors and eminent people go to visit them. They ask for flowers to be offered to the soldiers. How can you make a memorial of someone you don’t know anything about? At this time you are unknown and then you will become very well known. Your temples will also be created. At this time you are establishing the kingdom of Rama in an incognito way. Achcha. You have become long -lost and now-found sweetest, beloved children, have you not? You have come and met Me after 5000 years. When parents find their lost child, they become so happy and the child would even continue to say “Baba, Baba!” So, destruction now takes place and you become lost, that is, you become separated from the Father. You then meet the Father after a cycle and so the Mother and Father have so much love for you. You experience happiness for half the cycle. Then, you gradually become unhappy. Sannyasis say that happiness is like the droppings of a crow. They say this about vice as well. Guru Nanak also said: God washed the dirty, impure clothes. So, who washed them? It is only the one Supreme Soul who is said to be the incorporeal One. Sikh people continue to sing this. You children need to have very shrewd intellects on this path of knowledge because souls have to be awakened. Therefore, souls become shrewd. Some people have very shrewd intellects. Mothers and kumaris become very alert. Otherwise, for women to sit and explain to their husbands requires a lot of courage and fearlessness. All are residents of hell and in degradation. They dance a lot and clap a great deal in devotion, but there is no salvation through that. In order to go into salvation, you children remain completely quiet. Narad asked to marry Lakshmi. In fact, you are making effort to marry Lakshmi. Devotees cannot marry her. Only you know how and when Lakshmi and Narayan received their kingdom and where they are now. This is why you don’t go to the temples and bow down to them. You understand that you are becoming Lakshmi and Narayan. You have stopped bowing down. Those people call you atheists because you don’t bow down. In fact, you are theists, numberwise, according to the effort you make. Those people who don’t know God are atheists. You now belong to the Lord and Master, and then Maya slaps you and you thereby become orphans. Maya makes even very old people become young again; there are storms of Maya. You have to hold one another’s hand, become co-operative and continue to walk on this new pilgrimage and follow the Father’s shrimat. Everything depends on the pilgrimage of the intellect. You have to become as unshakeable and immovable as Angad. That stage will come at the end. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Hold on to one another’s hand, be co-operative and continue to follow the Father’s shrimat. Remember the Father, who is the s accharine of all relationships with a lot of love.
  2. Just as the Father gives regard to every child, so follow the Father in the same way. Definitely give regard to your seniors.
Blessing: May you be a constant yogi and be successful in your tapasya by keeping the lesson of One in your awareness.
The special basis of success and the easy way to have tapasya is to make the lesson of the word “One” firm. Tapasya means to belong to One; tapasya means to concentrate the mind and intellect; tapasya means to have love for solitude; tapasya means to make your stage stable; tapasya means to save all the treasures you have received from being wasted, that is, to be economical. Keep the lesson of “One” in your awareness and you will become a constant and easy yogi and be saved from having to labour.
Slogan: An obedient person is one who keeps the mind and intellect constantly devoid of the dictates of oneself.

*** Om Shanti ***

Elevated versions from Mateshwariji

This Godly knowledge is not received in the golden age.

If someone were to ask whether the Godly knowledge that we receive now, at the confluence age, can be received again in the golden age, it can be explained: In the golden age, we ourselves are embodiments of knowledge and experience the reward as deities. There is no exchange of knowledge there. It is ignorant ones who need knowledge, whereas they are all embodiments of knowledge there. No one is ignorant there that they would need knowledge. Now, at this time, we know the beginning, middle and end of the full variety drama. Who we were at the beginning, where we came from, how we then became trapped in karmic bondages in the middle and fell down and now at the end, we have to go beyond our karmic bondages and become karmateet deities. It is through the efforts we make at this time that we receive the golden-aged deity reward in the future. If we were to know at that time that we deities would fall, then from that thought our happiness would disappear. So there is no knowledge of coming down there. We do not have these thoughts there. It is now that we know through this knowledge that we have to ascend and create a life of happiness. Then, after half the cycle, after we have experienced our reward, we forget ourselves, become influenced by Maya and fall. This rise and fall is an eternal predestined game. We have all of this knowledge in our intellects now, but we won’t have it in the golden age.

2) Unless we become the children of God practically, we can accumulate nothing in God’s court.

Many people believe that whatever actions we perform, whether they are good or bad actions, we definitely receive the fruit of those. For instance, when people donate something or perform charity, have a sacrificial fire, or have worshipping rituals, they believe that whatever they have donated in the name of God has been credited in God’s court and that when they die they will definitely receive the fruit of that and they will receive liberation. However, we know that there isn’t permanent benefit by doing any of that. Whatever actions we perform, we definitely receive temporary and momentary happiness of that. However, until we have permanent happiness in our practical lives, we cannot receive a return of that. We can ask anyone: Have you fully benefitted from all of the things that you have been doing? On hearing this question, they become speechless. How can we tell whether it has been credited with God or not? Until you have elevated actions in your practical lives, no matter how much effort you make, you will not be able to receive liberation or liberation-in-life. Achcha, you may have donated and performed charity, but your sins were not burnt by doing that, so how can you receive liberation and liberation-in-life? Though there are so many saints and great souls, unless they receive the knowledge of karma, their actions cannot become neutral actions, nor can they attain liberation or liberation-in-life. Even they do not know what true religion and true action are. They simply chant the name “Ram, ram” with their lips, but they cannot receive liberation from that. However, to think that you will receive liberation after you have died is considered to be senseless. They don’t even know of what benefit that would be when they die. Nothing at all. Whatever actions people perform in their lives, whether good or bad, they have to face the consequences in this life. We receive all of this knowledge of how we have to perform pure actions and make our lives practical, from God, the Teacher. Achcha.

[wp_ad_camp_5]

 

Read Murli 15 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 17 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 16 October 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 17/10/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
[Web-Dorado_Zoom]
17/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – आपस में एक दो का रिगार्ड रखना है, अपने को मिया मिट्ठू नहीं समझना है, बुद्धि में रहे जो कर्म मैं करूँगा, मुझे देखकर सब करेंगे”
प्रश्नः- कौन सी अवस्था जमाने के लिए बहुत-बहुत मेहनत करनी है?
उत्तर:- गृहस्थ व्यवहार में रहते स्त्री पुरूष का भान समाप्त हो जाए, मन्सा में भी संकल्प विकल्प न चलें। हम आत्मा भाई-भाई हैं। प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे भाई-बहिन हैं, यह अवस्था जमाने में टाइम लगता है। साथ में रहते विकारों की आग न लगे। क्रिमिनल एसाल्ट न हो, इसका अभ्यास करना है। मात-पिता जो सर्व सम्बन्धों की सैक्रीन है, उसे याद करना है।
गीत:- बदल जाये दुनिया न बदलेंगे हम….

ओम् शान्ति। यह बच्चों की गैरन्टी वा प्रतिज्ञा है। प्रतिज्ञा कोई मुख से नहीं की जाती है। जब बच्चे बाप को पहचान लेते हैं तो प्रतिज्ञा हो ही जाती है। हर एक इन्डिपेन्डेंट (स्वतत्र) पुरूषार्थ करता है पद पाने लिए। स्कूल में सब इन्डिपेन्डेंट पुरूषार्थ करते हैं कि हम ऊंच पद पायें। यहाँ आत्मा पढ़ती है और परमात्मा पढ़ाने लिए जीवात्मा बनते हैं। और इनमें प्रवेश कर इनको (ब्रह्मा को) और ब्रह्मा मुख वंशावली को पढ़ाते हैं। स्वयं ब्रह्मा को मुख वंशावली नहीं कहेंगे। ब्राह्मण ब्रह्मा मुख वंशावली हैं। ब्रह्मा शिव की मुख वंशावली नहीं है। शिवबाबा तो आकर इनमें प्रवेश कर अपना बनाते हैं। यह भी क्रियेशन है। पहले ब्रह्मा को रचते हैं, विष्णु को नहीं रचते। गाया भी जाता है ब्रह्मा, विष्णु और शंकर। विष्णु, शंकर और ब्रह्मा नहीं कहा जाता है। पहले ब्रह्मा को रचते हैं। ब्रह्मा का आक्यूपेशन अलग है। यह हर एक बात समझने की है। इनको त्वमेव माताश्च पिता…. कहा जाता है। तो वह निराकार है ना। तो साकार में मात-पिता चाहिए तब पूछते हैं – मम्मा को माँ है? कहेंगे हाँ। ब्रह्मा, मम्मा की भी माँ है। ब्रह्मा की कोई माँ नहीं। यह माँ (ब्रह्मा) फीमेल न होने कारण सरस्वती को मम्मा कहते हैं। बाप पढ़ाते हैं तो यह भी पढ़ते हैं। जैसे तुम स्टूडेन्ट हो वैसे यह भी है। शिवबाबा कोई स्टूडेन्ट नहीं है।

तुम बच्चे ब्रह्मा का मर्तबा भी देख रहे हो कि यह सबसे जास्ती पढ़ता है। देखते हो यह बरोबर नजदीक हैं। पहले किसके कान सुनते हैं? यह ब्रह्मा सबसे नजदीक है। तो कहेंगे कि मम्मा बाबा जास्ती पढ़ते हैं, फिर नम्बरवार सब बच्चे पढ़ते हैं। भले ही बाबा कहते हैं जगदीश बच्चा मम्मा बाबा से भी अच्छा समझाता है। बाबा की मुरली पढ़कर, धारण कर फिर गीता मैगजीन आदि बनाते हैं क्योंकि यह शास्त्र आदि पढ़ा हुआ है। अंग्रेजी में भी होशियार है। इसको कहा जाता है रिगार्ड। स्टूडेन्ट को एक दो का रिगार्ड रखना है। बाबा भी रिगार्ड रखते हैं ना। तो फादर को फालो करना चाहिए। भले अभी 16 कला नहीं बनें हैं। नम्बरवार तो होते हैं ना। कोई न कोई भूलें सबसे होती रहती हैं इसलिए अपने को मिया मिट्ठू नहीं समझना है। जैसे कर्म बाप करते हैं अथवा मैं करूंगा, मुझे देख सब करेंगे। तो एक दो का रिगार्ड रखना है। बाबा को भी रिगार्ड रखना पड़ता है। लोग कहते हैं कि यह स्त्री पुरूष को भाई-बहिन बनाते हैं। तो जो बुद्धिवान बच्चा होगा तो झट कहेगा कि परमात्मा के बच्चे तो सब हैं तो भाई-बहन ठहरे ना। प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे भाई बहन हुए ना। भाई-बहिन बनना अच्छा है ना। बाबा के बच्चे बनेंगे तो वर्सा ले सकेंगे। वर्सा मिलना है – शिवबाबा से ब्रह्मा बाबा द्वारा। तो ब्रह्माकुमार कुमारी बनना पड़े। फिर कभी भी विकार में जा नहीं सकते। नहीं तो क्रिमिनल एसाल्ट हो जाए। बाबा कितना अच्छी रीति समझाते हैं। पवित्र रहने की युक्तियाँ भी बताते हैं। स्त्री भी कहती है बाबा, पुरूष भी कहते हैं बाबा। तो स्त्री पुरूष का भान टूट जायेगा। यह भी कहते हैं कि आदम और बीबी द्वारा सृष्टि की स्थापना हुई तो सब उनकी सन्तान ठहरे। भाई बहन ठहरे। कुमार कुमारी के लिए इतनी मेहनत नहीं है। जो सीढ़ी चढ़ गया है तो उनको उतरना पड़े। तो उतरने में मेहनत है। ऐसे नहीं दोनों को अलग-अलग रहना है। सिर्फ कम्पेनियन होकर रहो। सतयुग में कोई अपवित्र नहीं होते। और वहाँ बच्चे का भी इन्तजार नहीं होता है। यहाँ बच्चे का इन्तजार करते हैं। वहाँ समय अनुसार आपेही साक्षात्कार होता है। मनुष्य तो कहते यह कैसे हो सकता है। भला यहाँ के सम्पूर्ण विकारी कैसे समझें कि वहाँ निर्विकारी होते हैं। वहाँ देह-अभिमान होता नहीं। यहाँ देह-अभिमान रहता है। देह छोड़ने पर लोग कितना रोते हैं। वहाँ रोना होता नहीं। वहाँ समय पर साक्षात्कार होता है कि शरीर छोड़ जाकर प्रिन्स बनना है। यहाँ भी तुम साक्षात्कार करते हो कि तुम भविष्य में जाकर महाराजा महारानी बनेंगे। कृष्ण जैसा बालक गोद में देखते हो। साक्षात्कार से यह मालूम नहीं पड़ता कि सूर्यवंशी महाराजा महारानी बनेंगे या चन्द्रवंशी क्योंकि यह बिल्कुल नई बात है इसलिए कहा जाता है कि पहले बाप को पहचानो, बाप कहते हैं देखो मैं कितना लवली हूँ!

बाप कहते हैं कि सभी सम्बन्धों की सैक्रीन मैं हूँ, मैं कहता हूँ मुझे याद करो। कहते हैं त्वमेव माताश्च पिता… एक-एक बात में निश्चय बिठाना चाहिए। परन्तु कोई न कोई बात में संशय आ जाता है। फिर राजाई पद पा न सकें इसलिए बाप कहते हैं मनमनाभव। बाप को याद करो तो तुम आशिक ठहरे। यह है रूहानी आशिक माशूक। यह पक्का करना चाहिए कि हम आत्मा परमात्मा की आशिक हैं। कृष्ण सबका माशूक हो न सके। कृष्ण को सब नहीं याद करते हैं। यह बाप कहते हैं मनमनाभव। अब मेरे पास आना है, नाटक पूरा होना है, घर जाना है। तो घर जरूर याद आयेगा। हर एक बात की समझानी मुरली में मिलती रहती है। बच्चे मुरली नोट नहीं करते फिर वही बातें बाबा से पूछते रहते हैं। मुख्य बात है आशिक और माशूक की। सभी भगत आशिक हैं क्योंकि परमात्मा को याद करते हैं। कहते मेरा तो एक दूसरा न कोई। तुम बच्चे इस समय सब नई-नई बातें सुनते हो। परन्तु सुनते-सुनते माया थप्पड़ लगा देती है। रावण कम थोड़ेही है। बाप सर्वशक्तिमान है, माया भी सर्वशक्तिमान है। आधाकल्प माया का राज्य चलता है। अब बाप कहते हैं 5 विकारों का दान दे दो तो ग्रहण छूटे। फिर भी एकदम छूटता नहीं है। कई दान देकर फिर वापिस ले लेते हैं। यह पैसों की बात नहीं, विकारों की बात है। साधू सन्यासी पैसे के लिए कहते हैं कि दान देकर वापिस नहीं लेना चाहिए क्योंकि इसमें उनकी कमाई है। कई मनुष्य फिर सन्यासियों के पास जाकर कहते हैं बच्चा चाहिए। कहेंगे हमारी आशीर्वाद से हो जायेगा। अगर बच्चा हो गया तो कहेंगे हमने दिया। मर गया तो कहेंगे भावी। अगर एक का कुछ काम हो गया तो बहुतों का विश्वास बैठ जाता है। ऐसे उन्हों की वृद्धि होती है। एक तरफ अपनी महिमा करते दूसरे तरफ भावी कहते हैं। तुम इस समय अन-नोन वारियर्स हो। वह जो अन-नोन वारियर्स होते हैं, उनका यादगार बनाते हैं और बड़े-बड़े जाते हैं। कहते हैं सोल्जर्स पर फूल चढ़ाओ। अरे जिसका पता ही नहीं, उनका यादगार कैसे बनेगा। अभी तुम अन-नोन हो फिर तुम वेरी वेल नोन बनते हो। तुम्हारे मन्दिर बनते हैं अभी तुम गुप्त में ही रामराज्य स्थापन कर रहे हो। अच्छा-

मीठे-मीठे बच्चे – सिकीलधे बच्चे बने हो ना! 5 हजार वर्ष के बाद मिले हो। किसी का गुम हुआ बच्चा मिल जाए तो माँ बाप को कितनी खुशी होगी, बच्चा भी बाबा-बाबा कहता रहेगा। तो अभी विनाश होता है और तुम गुम हो जाते हो अर्थात् बाप से बिछुड़ जाते हो। फिर कल्प के बाद बाप से मिलते हो तो माँ बाप का कितना प्यार रहता है। आधाकल्प तुम सुख भोगते हो, फिर धीरे-धीरे दु:खी होते हो। सन्यासी कहते हैं ना – सुख काग विष्टा समान है। वह भी विकार के लिए कहते हैं। गुरूनानक ने भी कहा है – मूत पलीती कपड़ धोये, तो कौन धोयेगा! वह एक परमात्मा ही है, जिसको कहते ही हैं एकोअंकार… सिक्ख लोग यह गाते रहते हैं। इस ज्ञान में तुम बच्चों की बुद्धि बड़ी शुरूड़ (सयानी) चाहिए क्योंकि आत्मा को जगाना होता है। तो आत्मा भी शुरूड बनती है। कोई-कोई तो बहुत अच्छे शुरूड बुद्धि हो जाते हैं। मातायें, कन्यायें बहुत अच्छी खड़ी हो जाती है। नहीं तो मातायें बैठ पति को समझायें इसमें बड़ी हिम्मत और निर्भयता चाहिए। बाकी तो सब नर्कवासी हैं, दुर्गति में हैं। वह तो भक्ति में खूब नाचते ताली बजाते रहते हैं, सद्गति तो होती नहीं। तुम बच्चे सद्गति में जाने के लिए बिल्कुल चुप रहते हो। नारद ने कहा मैं लक्ष्मी को वरूँ। वास्तव में लक्ष्मी को वरने के लिए तुम पुरूषार्थ कर रहे हो। भगत तो वर न सकें। लक्ष्मी-नारायण को कैसे राज्य मिला, कब मिला और वह अब कहाँ गये, यह सिर्फ तुम जानते हो इसलिए तुम मन्दिर में जाकर माथा नहीं टेकते हो। समझते हो कि हम ही लक्ष्मी-नारायण बन रहे हैं। तुम्हारा माथा टेकना बन्द हो गया है। वह कहते हैं यह नास्तिक हैं, जो माथा नहीं टेकते। वास्तव में तुम ही आस्तिक हो – नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। वह तो नास्तिक हैं जो परमात्मा को नहीं जानते। अभी तुम धणके बने हो फिर भी माया थप्पड़ लगा देती है तो आरफन, निधनके बन पड़ते हैं। भले ही बूढ़े हैं परन्तु माया उनको भी जवान बना देती है। माया के तूफान आते हैं। तुम्हें एक दो का हाथ पकड़कर, सहयोगी बन इस नई यात्रा पर, बाप की श्रीमत पर चलते रहना है। सारा मदार है बुद्धि की यात्रा पर। अचल-अडोल अंगद की तरह बनना है। अन्त में वह अवस्था आनी है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) एक दो का हाथ पकड़, सहयोगी बन बाप की श्रीमत पर चलते रहना है। बाप जो सर्व संबंधों की सैक्रीन है, उसे बड़े प्यार से याद करना है।

2) जैसे बाप हर बच्चे को रिगार्ड देते हैं, ऐसे फालो करना है। अपने बड़ों को रिगार्ड जरूर देना है।

वरदान:- एक के पाठ को स्मृति में रख तपस्या में सफलता प्राप्त करने वाले निरन्तर योगी भव 
तपस्या की सफलता का विशेष आधार वा सहज साधन है – एक शब्द का पाठ पक्का करो। तपस्या अर्थात् एक का बनना, तपस्या अर्थात् मन-बुद्धि को एकाग्र करना, तपस्या अर्थात् एकान्तप्रिय रहना, तपस्या अर्थात् स्थिति को एकरस रखना, तपस्या अर्थात् सर्व प्राप्त खजानों को व्यर्थ से बचाना अर्थात् इकॉनामी करना। इस एक के पाठ को स्मृति में रखो तो निरन्तर योगी, सहजयोगी बन जायेंगे। मेहनत से छूट जायेंगे।
स्लोगन:- आज्ञाकारी वो हैं जो मन और बुद्धि को मनमत से सदा खाली रखते हैं।

मातेश्वरी जी के अनमोल महावाक्य

1) ‘सतयुग में यह ईश्वरीय नॉलेज नहीं मिलती’

अगर कोई यह प्रश्न पूछे कि यह जो अपने को इस संगम समय पर ईश्वरीय नॉलेज मिल रही है वो फिर से अपने को सतयुग में मिलेगी? अब इस पर समझाया जाता है कि सतयुग में तो हम स्वयं ज्ञान स्वरूप हैं। देवताई प्रालब्ध भोग रहे हैं, वहाँ ज्ञान की लेन देन नहीं चलती, अब ज्ञान की जरूरत है अज्ञानियों को। परन्तु वहाँ तो सब ज्ञान स्वरूप हैं, वहाँ कोई अज्ञानी रहता ही नहीं है, जो ज्ञान देने की जरूरत रहे। अब तो इसी समय अपन सारे विराट ड्रामा के आदि मध्य अन्त को जानते हैं। आदि में हम कौन थे, कहाँ से आये, और मध्य में कर्मबन्धन में फंसे फिर कैसे गिरे, अन्त में हमको कर्मबन्धन से अतीत हो कर्मातीत देवता बनना है। जो पुरुषार्थ अब चल रहा है जिससे हम भविष्य प्रालब्ध सतयुगी देवतायें बनते हैं। अगर वहाँ हमको यह मालूम होता कि हम देवतायें गिरेंगे तो यह ख्याल आने से खुशी गायब हो जाती, तो वहाँ गिरने की नॉलेज नहीं है। यह ख्यालात वहाँ नहीं रहती, हमको इस नॉलेज द्वारा अब मालूम पड़ा है कि हमको चढ़ना है और सुख की जीवन बनानी है। फिर आधाकल्प के बाद अपनी प्रालब्ध भोग फिर अपने आपको विस्मृत कर माया के वश होकर गिर जाते हैं। यह चढ़ना और गिरना अनादि बना बनाया खेल है। यह सारी नॉलेज अब बुद्धि में है बाकी सतयुग में नहीं रहती।

2) ‘प्रैक्टिकल ईश्वर का बच्चा बनने बिगर ईश्वरीय दरबार में कुछ भी जमा नहीं होता’

बहुत मनुष्य ऐसे समझते हैं कि हम जो भी कुछ कर्म करते हैं, चाहे अच्छे चाहे बुरे कर्म करते हैं उनका फल अवश्य मिलता है। जैसे कोई दान पुण्य करते हैं, यज्ञ हवन करते हैं, पाठ पूजा करते हैं वो समझते हैं कि हमने ईश्वर के अर्थ जो भी दान किया वो परमात्मा के दरबार में दाखिल हो जाता है। जब हम मरेंगे तो वो फल अवश्य मिलेगा और हमारी मुक्ति हो जायेगी, परन्तु यह तो अपन जान चुके हैं कि इस करने से कोई सदाकाल के लिये फायदा नहीं होता। यह तो जैसे जैसे कर्म करेंगे उससे अल्पकाल क्षणभंगुर सुख की प्राप्ति अवश्य होती है। मगर जब तक यह प्रैक्टिकल जीवन सदा सुखी नहीं बनी है तब तक उसका रिटर्न नहीं मिल सकता। भल हम किससे भी पूछेंगे यह जो भी तुम करते आये हो, उन करने से तुम्हें पूरा लाभ मिला है? तो यह सुनने से वो लाजवाब हो जाते हैं। अब परमात्मा के पास दाखिल हुआ या नहीं हुआ वो हमें क्या मालूम? जब तक अपनी प्रैक्टिकल जीवन में कर्म श्रेष्ठ नहीं बने हैं तब तक कितनी भी मेहनत करेंगे तो भी मुक्ति जीवनमुक्ति प्राप्त नहीं करेंगे। अच्छा, दान पुण्य किया लेकिन उस करने से कोई विकर्म तो भस्म नहीं हुए, फिर मुक्ति जीवनमुक्ति कैसे प्राप्त होगी। भले इतने संत महात्मायें हैं जब तक उन्हों को कर्मों की नॉलेज नहीं है तब तक वो कर्म अकर्म नहीं हो सकते, न वह मुक्ति जीवनमुक्ति को प्राप्त करेंगे। उन्हों को भी यह मालूम नहीं है कि सतधर्म क्या है और सतकर्म क्या है, सिर्फ मुख से राम राम कहना इससे कोई मुक्ति नहीं होगी। बाकी ऐसे समझ बैठना कि मरने के बाद हमारी मुक्ति होगी, ऐसे को भी बेसमझ कहा जायेगा। उन्हों को यह पता ही नहीं कि मरने के बाद क्या फायदा मिलेगा? कुछ भी नहीं। बाकी तो मनुष्य अपने जीवन में चाहे बुरे कर्म करें, चाहे अच्छा कर्म करें वो भी इस ही जीवन में भोगना है। अब यह सारी नॉलेज हमें परमात्मा टीचर द्वारा मिल रही है कि कैसे शुद्ध कर्म करके अपनी प्रैक्टिकल जीवन बनानी है। अच्छा। ओम् शान्ति।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 15 October 2017 :- Click Here

Font Resize