babamurli

TODAY MURLI 15 APRIL 2021 DAILY MURLI (English)

15/04/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become as merciful as the Father and show many others this path. The children who remain busy in doing service day and night are courageous ones.
Question: What is the main basis of making your fortune elevated?
Answer: The pilgrimage of remembrance. To the extent that you stay in remembrance, you accordingly make your fortune elevated. While doing everything for the livelihood of your body, continue to remember the Father and the inheritance and your fortune will continue to become elevated.
Song: I have come having awakened my fortune.

Om shanti. When children are born, they bring their fortune with them according to their karma. Some take birth to wealthy parents whereas others take birth to poor parents. The father would understand that an heir has come. Each one receives a birth according to how much he has donated and how much charity he has performed. The Father has once again come after a cycle and explained to you sweetest, beloved long-lost and now-found children. You children also know that you have brought your fortune with you. You have brought with you your fortune of the sovereignty of heaven. This applies to those who understand this very clearly and who remember the Father. Fortune is connected with remembrance. You have taken birth and so there should be remembrance of the Father. The more remembrance you have, the higher your fortune will be. It is such an easy matter! You receive liberation-in-life in a second. You have come to attain your fortune of the land of happiness. Each of you is now making effort. Each of you can look at yourself to see how you make effort. Just as Mama, Baba and the serviceable children are making effort, so you too should follow them. Give everyone the Father’s introduction. When you give the Father’s introduction it should also include the introduction of the beginning, the middle and the end of creation. None of the rishis or munis can give the knowledge of the Creator or of the beginning, the middle and the end of creation. Your intellects are now aware of the whole cycle. No one in the world knows the Father or the inheritance. Now, you children know the Father and your fortune and you have to remember the Father. You definitely have to perform actions for the livelihood of your bodies. You also have to look after your households. Anyone who is free from bondage can do very good service. Those who don’t have children have a very good chance to do service. Otherwise, a woman has the bondage of her husband and children. If she doesn’t have children, she is free from bondage; that is being in the stage of retirement. Then, company is needed to go to the land of liberation. On the path of devotion they take the company of sages etc. and those on the path of isolation. Those on the path of isolation cannot enable anyone to receive the inheritance of the family path. Only you children can enable people to receive it. The Father has shown you the path. Sit and relate the history and geography of Bharat and 84 births. Only the people of Bharat take 84 births. It is not a question of just one birth. Those who belong to the sun dynasty then go into the moon dynasty, then the merchant dynasty; it is numberwise. The number one prince of Bharat is Shri Krishna, whom they rock in a cradle. They don’t rock the second number because the degrees have reduced. The number one is worshipped. People don’t understand whether there is one Krishna or two or three Krishnas. No one knows that there is the dynasty of Krishna. Only the number one is worshipped. Marks are received numberwise. Therefore, effort has to be made: Why should I not claim number one? Follow Mama and Baba and claim their kingdom. Those who serve well will take birth in a good home to an emperor. There, there are only emperors and empresses. There are no such titles as kings and queens at that time; they come into existence later. When they become impure in the copper age, those who have huge properties take the title of king. The status of an emperor becomes less; it disappears. When the path of devotion begins, there is a difference between those who are wealthy and those who are poor. Now, only you children remember Shiv Baba and claim your inheritance from Him. In other spiritual gatherings, people sit and relate religious stories. Human beings only teach devotion to human beings; they cannot give knowledge or grant salvation. The Vedas and scriptures belong to the path of devotion. Only through knowledge is there salvation. People believe in rebirth. No one can return home in between. It is only at the end that the Father comes and takes everyone back home. Where will all those souls go and reside? Each religion has its own section. This also has to be explained. No one knows that there is also a tree of souls. You children have the knowledge of the whole tree in your intellects. There is a tree of souls and also a tree of living beings. You children know that you will shed your old bodies and return home. To consider yourself to be separate from your body means to die alive. When you die, the world is dead to you. You then leave all your friends and relatives. You first of all take the full teachings and claim a right to a status and you then have to return home. To remember the Father is very easy. Even if someone is ill, you should continue to tell him: Remember Shiv Baba and your sins will be absolved. It is not good for those who are firm yogis to die soon because they are doing spiritual service while staying in yoga. If they die they won’t be able to do service. By doing service, you continue to make your status elevated and you are also able to serve your brothers and sisters. You will also claim the inheritance from the Father. We are brothers, children of the one Father. The Father says: Remember Me and your sins will be absolved. He said this previously too. You can explain to anyone: Brothers and sisters, you souls have become tamopradhan. You were satopradhan and you now have to change from tamopradhan to satopradhan and go to the satopradhan world. Souls have to be made satopradhan with the pilgrimage of remembrance. You have to keep a proper chart of remembrance. You won’t be able to keep a chart of knowledge. The Father continues to give you knowledge. You have to check how to remove your burden of sin. This is why charts of remembrance are kept. How many hours did I stay in remembrance? You remember the incorporeal world and you also remember the new world. Upheaval has to come. Preparations are being made for that; they continue to manufacture bombs. On the one hand, they say they are inventing materials to bring about death and on the other hand, they say: Don’t manufacture anything for death. They even have deadly things beneath the sea. They will come up from beneath the sea (in submarines), release the bombs and then submerge again. They continue to manufacture such things. They are doing all of that for their own destruction. Death is just standing ahead. So many huge palaces are being built but you know that all of them will be turned to dust. Some people’s wealth will be buried under the ground… War will definitely take place. They will try to empty everyone’s pocket. So many thieves go there. They spend so much on war. All of that is going to turn to dust. All the buildings etc. will fall. When the bombs are dropped, three quarters of the world will be destroyed. Only one quarter will remain. Bharat is in one quarter, is it not? All the others came into existence later. Only the Bharat portion will remain. Everyone is to die. Therefore, why should we not claim our full inheritance from the Father? This is why the Father says: You also have to fulfil your responsibility to your worldly relatives. If you have no bondage, Baba would advise you: Why don’t you become busy in doing service? You are free and you can therefore benefit many people. OK, you may not go out anywhere. You should at least have mercy for your friends and relatives. Previously, you used to say: Baba, have mercy! You have now been shown the path. Therefore, you should also have mercy for others just as the Father has mercy. The Father says: Remember Me and your sins will be absolved. Sannyasis make so much effort doing hatha yoga. Here, you don’t have to do any of that. You simply have to stay in remembrance so that your sins will be burnt away. There is no difficulty in this. It is just a matter of staying on the pilgrimage of remembrance. When you sit, walk and move around, you do everything with your physical organs, but you connect your intellects in yoga to the Father. Become true lovers of that Beloved. He Himself says: O lovers! O children. On the path of devotion, you remembered Me a great deal. Now remember Me, the Beloved, and your sins will be burnt away. I guarantee this. Some of these things are mentioned in the scriptures. By listening to the Gita from God you will receive liberation-in-life. By listening to the Gita from human beings you have come into a life of bondage. You have continued to come down the ladder. You have to churn the ocean of knowledge about everything. Use your intellects! This is the pilgrimage of the intellect through which your sins are absolved. Sins will not be absolved by studying the Vedas and scriptures or by doing tapasya or having sacrificial fires. You come down and then you have to go up above. Unless someone explains it to them, no one will be able to understand anything from just the picture of the ladder. Just as you teach small children by showing them pictures – this is an elephant, when he sees an elephant, he will remember that picture – in the same way, this enters your intellects. In the pictures, they have shown small images. You know that Paradise will be very big. There will be a big kingdom there. There will be palaces of diamonds and jewels there. All of them will then disappear; everything will disappear. How else would this Bharat have become poor? From poor, it has to become wealthy and from wealthy, poor. This drama is predestined. This is why the picture of the ladder is explained. By explaining to new people who come, you will develop that practice and your mouths will open. Children are made worthy of doing service. In many centres, children spread a lot of peacelessness. When their intellects’ yoga wanders outside, they cause damage and spoil the atmosphere. It is numberwise. So, the Father would say: You didn’t study and so now look what your state has become! Day by day, you will continue to have more visions. Those who commit sin will continue to receive punishment. They will then say: I committed sin for no reason. When you tell the Father and repent, it can be reduced a little. Otherwise, it will continue to increase. This will continue to happen. You will then feel it and say: What can I do? This habit of mine does not finish. Therefore, it would be better to go and live at home. Some do very good service. Some even do disservice. The Father sits here and gives you the names of those in His army who are brave and courageous. There is no question of a war here. These are unlimited matters. Good children are definitely praised by the Father. You children have to become very merciful and benevolent. Become sticks for the blind. Show everyone the path: Remember the Father and your sins will be absolved. It is said: Sinful soul and charitable soul. It isn’t that the Supreme Soul is sitting in that one or that a soul becomes the Supreme Soul. All of that is wrong. No sin can be accumulated by the Supreme Soul. He has the part in the drama of doing service. It is human beings who become sinful souls and charitable souls. Those who were satopradhan have become tamopradhan. The Father sits in this one’s body and makes you satopradhan, and you should therefore follow His directions. The Father has now made your intellects very broad and unlimited. You now know how the kingdom is being established. The Father enters the body of Brahma and teaches Raja Yoga to you mouth-born creation of Brahma and makes you into deities. You then take rebirth and come down the ladder. All of that now has to repeat. The Father is once again carrying out establishment through Brahma. You conquer the five vices with the power of yoga and become conquerors of the world. There is no question of a war. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Become free from bondage and engage yourself in the Father’s service. Only then will you make your fortune elevated. Become merciful and show many others the path. Become a stick for the blind.
  2. Remove all attachment from your body and die alive because you now have to return home. Even if you are ill just remember the one Father and your sins will be absolved.
Blessing: May you become an embodiment of success by serving yourself as well as serving others.
In order to become an embodiment of success, as well as serving others, also serve yourself. Whenever you go to do service, always think that together with doing that service, you are also finally cremating of your old sanskars. The more you cremate your sanskars, the more respect you will receive. All souls will salute you with their minds. However, do not make them into those who simply salute you externally, but make them into those who salute you with their minds
Slogan: Keep the aim of doing unlimited service and all your limited bondages will break.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 15 APRIL 2021 : AAJ KI MURLI

15-04-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप समान रहमदिल बन अनेकों को रास्ता बताओ, जो बच्चे दिन रात सर्विस में लगे रहते हैं – वही बहादुर हैं”
प्रश्नः- ऊंची तकदीर का मुख्य आधार किस बात पर है?
उत्तर:- याद की यात्रा पर। जितना जो याद करता है उतनी ऊंची तकदीर बनाता है। शरीर निर्वाह अर्थ कर्म करते बाप और वर्से को याद करते रहो तो तकदीर ऊंची बनती जायेगी।
गीत:- तकदीर जगाकर आई हूँ… 

ओम् शान्ति। बच्चे जब पैदा होते हैं तो अपने साथ कर्मों अनुसार तकदीर ले आते हैं। कोई साहूकार पास, कोई गरीब के पास जन्म लेते हैं। बाप भी समझते हैं कि वारिस आया है। जैसे-जैसे दान पुण्य किया है, उस अनुसार जन्म मिलता है। अब तुम मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों को कल्प बाद फिर से बाप ने आकर समझाया है। बच्चे भी जानते हैं कि हम अपनी तकदीर ले आये हैं। स्वर्ग की बादशाही की तकदीर ले आये हैं, जिन्होंने अच्छी तरह से जाना है और बाप को याद कर रहे हैं। याद के साथ तकदीर का कनेक्शन है। जन्म लिया है – तो बाप की याद भी होनी चाहिए। जितना याद करेंगे उतनी तकदीर ऊंची रहेगी। कितनी सहज बात है। सेकेण्ड में जीवनमुक्ति मिल जाती है। तुम आये हो सुखधाम की तकदीर प्राप्त करने। अभी हर एक पुरूषार्थ कर रहे हैं। हर एक अपने को देख रहे हैं कि हम कैसे पुरूषार्थ कर रहे हैं। जैसे मम्मा बाबा और सर्विसएबुल बच्चे पुरूषार्थ करते हैं उनको फॉलो करना चाहिए। सबको बाप का परिचय देना चाहिए। बाप का परिचय दिया तो रचना के आदि-मध्य-अन्त का भी आ जायेगा। ऋषि, मुनि आदि कोई भी रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त का नॉलेज दे नहीं सकते। अभी तुम्हारी बुद्धि में सारा चक्र स्मृति में रहता है। दुनिया में कोई भी बाप और वर्से को नहीं जानते। तुम बच्चे अब बाप को और अपनी तकदीर को जानते हो। अब बाप को याद करना है। शरीर निर्वाह अर्थ कर्म भी करना है। घरबार भी सम्भालना है। कोई निर्बन्धन हैं तो वह अच्छी सर्विस कर सकते हैं। बाल-बच्चे कोई नहीं तो उनको सर्विस करने का अच्छा चांस है। स्त्री को पति वा बच्चों का बंधन होता है। अगर बच्चे नहीं हैं तो बन्धनमुक्त ठहरे ना। वह जैसे वानप्रस्थी हो गये। फिर मुक्तिधाम में जाने के लिए संग चाहिए। भक्ति मार्ग में तो संग मिलता है – साधुओं आदि का, निवृत्ति मार्ग वालों का। वह निवृत्ति मार्ग वाले प्रवृत्ति मार्ग का वर्सा दिला न सकें। तुम बच्चे ही दिला सकते हो। तुमको बाप ने रास्ता बताया है। भारत की हिस्ट्री-जॉग्राफी 84 जन्मों की बैठ समझाओ। भारतवासी ही 84 जन्म लेते हैं। एक की बात नहीं है। सूर्यवंशी सो फिर चन्द्रवंशी, फिर वैश्यवंशी…. घराने में आते हैं, नम्बरवार तो होते हैं ना। भारत का पहला नम्बर प्रिन्स है श्रीकृष्ण, जिसको झूले में झुलाते हैं। दूसरे नम्बर को झुलाते ही नहीं हैं क्योंकि कला कम हो गई। जो पहला नम्बर है, पूजा उसकी होती है। मनुष्य समझते नहीं कि कृष्ण एक है वा दो तीन हैं। कृष्ण की डिनायस्टी चलती है, यह किसको भी पता नहीं है। पूजा सिर्फ नम्बरवन की होती है। मार्क्स तो नम्बरवार ही मिलते हैं। तो पुरूषार्थ करना चाहिए कि क्यों न हम पहले नम्बर में आयें। मम्मा बाबा को फालो करें, उनकी राजधानी ले लेवें। जो अच्छी सर्विस करेंगे वह अच्छे महाराजा के घर में जन्म लेंगे। वहाँ तो है ही महाराजा महारानी। उस समय कोई राजा-रानी का टाइटिल नहीं होता है। वह बाद में शुरू होता है। द्वापर से जब पतित बनते हैं तो उनमें बड़ी प्रापर्टी वाले को राजा कहा जाता है। फिर महाराजा का लकब कम हो जाता है, प्राय: लोप हो जाता है। फिर जब भक्ति मार्ग होता है तो गरीब, साहूकार में फ़र्क तो रहता है ना। अब तुम बच्चे ही शिवबाबा को याद करते हो और उनसे वर्सा ले रहे हो। और सतसंगों में मनुष्य बैठ कथा सुनाते हैं, मनुष्य, मनुष्य को भक्ति सिखलाते हैं। वे ज्ञान देकर सद्गति नहीं कर सकते। वेद, शास्त्र आदि सब हैं भक्ति मार्ग के। सद्गति तो ज्ञान से होती है। पुनर्जन्म को भी मानते हैं। बीच में तो कोई भी वापिस जा न सके। अन्त में ही बाप आकर सबको ले जाते हैं। इतनी सब आत्मायें कहाँ जाकर ठहरेंगी? सब धर्म वालों के सेक्शन तो अलग-अलग हैं ना। तो यह भी समझाना है। यह किसको पता नहीं है कि आत्माओं का भी झाड़ है। तुम बच्चों की बुद्धि में सारे झाड़ का ज्ञान रहता है। आत्माओं का झाड़ भी है, जीव आत्माओं का भी झाड़ है। बच्चे जानते हैं कि हम यह पुराना शरीर छोड़कर घर जा रहे हैं। “मैं आत्मा” इस शरीर से अलग हूँ – यह समझना गोया जीते जी मरना। आप मुये मर गई दुनिया। मित्र, सम्बन्धी आदि सबको छोड़ दिया। पहले पूरी शिक्षा लेकर, मर्तबे के अधिकारी बन फिर जाना है। बाप को याद करना तो बहुत सहज है। भल कोई बीमार हो, उनको भी कहते रहना चाहिए कि शिवबाबा को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। जो पक्के योगी हैं उनके लिए जल्दी मरना (शरीर छोड़ना) भी अच्छा नहीं है क्योंकि वह योग में रहकर रूहानी सेवा करते हैं। मर जायेंगे तो सेवा कर नहीं सकेंगे। सेवा करने से अपना ऊंच पद बनाते रहेंगे और भाई-बहिनों की सेवा भी होगी। वह भी बाप से वर्सा पा लेंगे। हम आपस में भाई-भाई हैं, एक बाप के बच्चे हैं।

बाप कहते हैं öमुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। आगे भी ऐसे कहा था। किसको भी समझा सकते हो, बहन जी अथवा भाई जी, तुम्हारी आत्मा तमोप्रधान बन गई है। जो सतोप्रधान थी अब फिर तमोप्रधान से सतोप्रधान बन सतोप्रधान दुनिया में चलना है। आत्मा को सतोप्रधान बनाना है याद की यात्रा से। याद का पूरा चार्ट रखना चाहिए। ज्ञान का चार्ट नहीं रख सकेंगे। बाप तो ज्ञान देते रहते हैं। जाँच रखनी है कि हमारे ऊपर जो विकर्मों का बोझा है, वह कैसे उतरे इसलिए याद का चार्ट रखा जाता है। हमने कितना घण्टा याद किया? मूलवतन को भी याद करते हैं फिर नई दुनिया को भी याद करते हैं। उथल-पुथल होनी है। उसकी भी तैयारी हो रही है। बॉम्ब्स आदि भी बनते जायेंगे। एक तरफ कहते हैं कि हम ऐसे-ऐसे मौत के लिए सामान बना रहे हैं। दूसरी तरफ कहते मौत का सामान नहीं बनाओ। समुद्र के नीचे भी मारने का सामान रखा है, ऊपर आकर बॉम्ब्स छोड़ फिर समुद्र में चले जायेंगे। ऐसी-ऐसी चीज़े बनाते रहते हैं। यह अपने ही विनाश के लिए कर रहे हैं। मौत सामने खड़ा है। इतने बड़े-बड़े महल बना रहे हैं। तुम जानते हो यह सब मिट्टी में मिल जायेंगे। किनकी दबी रही धूल में… लड़ाई जरूर होगी। कोशिश कर पॉकेट सबके खाली करेंगे। चोर भी कितने घुस पड़ते हैं। लड़ाई पर कितना खर्चा करते हैं। यह सब मिट्टी में मिल जाना है। मकान आदि सब गिरेंगे। बॉम्ब्स आदि गिरने से सृष्टि के 3 भाग खलास हो जाते हैं। बाकी एक भाग बच जाता है। भारत एक हिस्से में है ना। बाकी तो सब बाद में आये हुए हैं। अभी भारत का ही भाग बचेगा। मौत तो सबका होना ही है तो क्यों न हम बाप से पूरा वर्सा ले लेंवे इसलिए बाप कहते हैं लौकिक सम्बन्धियों से भी तोड़ निभाना है। बाकी बंधन नहीं है तो बाबा राय देंगे कि क्यों नहीं सर्विस पर लग जाते हो। स्वतन्त्र हैं तो बहुतों का भला कर सकते हैं। अच्छा कहाँ बाहर न जायें तो अपने मित्र सम्बन्धियों पर ही रहम करना चाहिए। आगे कहते थे ना कि बाबा रहम करो। अब तो तुमको रास्ता मिला है तो औरों पर भी रहम करना चाहिए, जैसे बाप रहम करता है। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। संन्यासी लोग तो हठयोग आदि की कितनी मेहनत करते हैं। यहाँ तो यह कुछ नहीं है। सिर्फ याद करो तो पाप भस्म हो जायेंगे, इसमें कोई तकलीफ नहीं। सिर्फ याद के यात्रा की बात है। उठो-बैठो, कर्मेन्द्रियों से भल कर्म भी करो, सिर्फ बुद्धि का योग बाप से लगाओ। सच्चा-सच्चा आशिक बनना है उस माशूक का। खुद कहते हैं कि हे आशिकों, हे बच्चों! भक्ति मार्ग में तो बहुत याद किया। लेकिन अब मुझ माशूक को याद करो तो तुम्हारे पाप भस्म होंगे। मैं गैरन्टी करता हूँ। कोई-कोई बात शास्त्रों में आ गई है। भगवान द्वारा गीता सुनने से तुम जीवनमुक्ति पाते हो। मनुष्य द्वारा गीता सुनने से जीवनबन्ध में आ गये हो, सीढ़ी उतरते आये हो। हर एक बात में विचार सागर मंथन करना है। अपनी बुद्धि चलानी है। यह बुद्धि की यात्रा है, जिससे विकर्म विनाश होंगे। वेद, शास्त्र, यज्ञ, तप आदि करने से पाप नाश नहीं होंगे। नीचे ही गिरते आये। अभी तुमको ऊपर जाना है। सिर्फ सीढ़ी से कोई समझ नहीं सकेंगे, जब तक उस पर कोई समझाये नहीं। जैसे छोटे बच्चे को चित्र दिखाकर सिखाना पड़ता है – यह हाथी है। जब हाथी देखेंगे तो चित्र भी याद आयेगा। जैसे तुम्हारी बुद्धि में आ गया है। चित्र में हमेशा छोटी चीज़ दिखाई जाती है। तुम जानते हो कि वैकुण्ठ तो बड़ा होगा ना। बड़ी राजधानी होगी। वहाँ हीरे जवाहरातों के महल होते हैं, वह फिर प्राय:लोप हो जाते हैं। सब चीज़ें गायब हो जाती हैं। नहीं तो यह भारत गरीब कैसे बना? साहूकार से गरीब, गरीब से साहूकार बनना है। यह ड्रामा बना-बनाया है इसलिए सीढ़ी पर समझाया जाता है, नये-नये आते हैं उनको समझाने से प्रैक्टिस होगी, मुख खुल जायेगा। सर्विस लायक बच्चों को बनाया जाता है। कई सेन्टर्स पर तो बहुत बच्चे अशान्ति फैलाते रहते हैं। बुद्धियोग बाहर भटकता है तो नुकसान कर देते हैं। वायुमण्डल खराब कर देते हैं। नम्बरवार तो हैं ना। फिर बाप कहेगा तुमने पढ़ा नहीं, तो यह हाल अपना देखो। दिन-प्रतिदिन जास्ती साक्षात्कार होते रहेंगे। पाप करने वालों को सज़ायें भी मिलती रहेंगी। फिर कहेंगे – नाहेक हमने पाप किया। बाप को सुनाकर प्रायश्चित करने से कुछ कम हो सकता है। नहीं तो वृद्धि होती रहेगी। ऐसा होता रहता है। खुद भी महसूस करेंगे परन्तु फिर कहते क्या करें – हमारी यह आदत मिटती नहीं, इससे तो घर जाकर रहें। कोई तो अच्छी सर्विस करते हैं। कोई डिस-सर्विस भी करते हैं। हमारी सेना में कौन-कौन बहादुर हैं, यह बाप बैठ नाम बताते हैं। बाकी लड़ाई आदि की यहाँ बात नहीं है। यह हैं बेहद की बातें। अच्छे बच्चे होंगे तो बाप जरूर महिमा भी करेंगे। बच्चों को बहुत रहमदिल, कल्याणकारी बनना है। अन्धों की लाठी बनना है। सबको रास्ता बताना है कि बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। पाप आत्मा और पुण्य आत्मा कहते हैं ना। ऐसे थोड़ेही कि अन्दर परमात्मा है वा आत्मा कोई परमात्मा बन जाती है। यह सब रांग है। परमात्मा पर थोड़ेही पाप लगता है। उसका तो ड्रामा में पार्ट है सर्विस करने का। मनुष्य ही पापात्मा, पुण्यात्मा बनते हैं। जो सतोप्रधान थे वही तमोप्रधान बने हैं। उनके तन में बाप बैठ सतोप्रधान बनाते हैं तो उनकी मत पर चलना पड़े ना।

अभी बाप ने तुम बच्चों को विशालबुद्धि बनाया है। अभी तुम जानते हो कि राजधानी कैसे स्थापन हो रही है। बाप ही ब्रह्मा तन में आकर ब्रह्मा मुख वंशावली बच्चों को राजयोग सिखाए देवी देवता बनाते हैं। फिर पुनर्जन्म ले सीढ़ी उतरते हैं। अब फिर सब रिपीट करना है। बाप फिर ब्रह्मा द्वारा स्थापना करा रहे हैं। योग बल से तुम 5 विकारों पर जीत पाकर जगतजीत बनते हो। बाकी लड़ाई आदि की कोई बात नहीं है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बन्धनमुक्त बन बाप की सर्विस में लग जाना है, तब ही ऊंची तकदीर बनेंगी। रहमदिल बन अनेको को रास्ता बताना है। अन्धों की लाठी बनना है।

2) इस शरीर से ममत्व निकाल जीते जी मरना है क्योंकि अब वापिस घर जाना है। बीमारी में भी एक बाप की याद रहे तो विकर्म विनाश हो जायेंगे।

वरदान:- अन्य आत्माओं की सेवा के साथ-साथ स्वयं की भी सेवा करने वाले सफलतामूर्त भव
सेवा में सफलतामूर्त बनना है तो दूसरों की सर्विस के साथ-साथ अपनी भी सर्विस करो। जब कोई भी सर्विस पर जाते हो तो ऐसे समझो कि सर्विस के साथ-साथ अपने भी पुराने संस्कारों का अन्तिम संस्कार करते हैं। जितना संस्कारों का संस्कार करेंगे उतना ही सत्कार मिलेगा। सभी आत्मायें आपके आगे मन से नमस्कार करेंगी। लेकिन बाहर से नमस्कार करने वाले नहीं बनाना, मानसिक नमस्कार करने वाले बनाना।
स्लोगन:- बेहद की सेवा का लक्ष्य रखो तो हद के बन्धन सब टूट जायेंगे।

TODAY MURLI 14 APRIL 2021 DAILY MURLI (English)

14/04/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, be introverted, stay in the knowledge-full stage and imbibe these elevated versions and you will then be able to benefit yourselves and other souls. Decorate the temple of your heart and mind with the idols of Godly virtues and spread the fragrance of pure thoughts.
Question: What is the true, elevated service? What is the subtle and deep secret of doing accurate service?
Answer: When someone makes a mistake, then, along with cautioning that one, let the power of your yoga reach them in a subtle way and burn away his or her impure thoughts. This is the most elevated, true service. As well as that, also pay attention to yourself. Let no impure thoughts arise in your mind. You yourself have to remain cautious and serve others in a divine way. This is the subtle and deep secret of doing service.

Om shanti. Each and every effort-making child first of all definitely has to adopt the stage of introversion. A lot of benefit is merged in introversion. It is only by having this stage that you can be unshakeable, constant, patient, humble, imbibe divine virtues and achieve a completely knowledge-full stage. When you are not introverted you cannot achieve a completely knowledge-full stage. This is because, if you don’t imbibe the elevated versions that you hear personally and you don’t go into their depths but just repeat the elevated versions you hear, then those elevated versions are simply versions. If the elevated versions are not heard in a knowledge-full stage, then Maya’s shadow is cast on those elevated versions. When you simply repeat the elevated versions you hear, they are influenced by the impure vibrations of Maya, and then, instead of you and others benefitting from them, loss is experienced, hence: “O children, become completely introverted!”. Your mind is like a temple. Just as you always have fragrance in a temple, in the same way, only when the temple of your mind becomes pure will pure thoughts emerge. Only images of pure deities, not devils, are kept in a temple. In the same way, each of you children should decorate the temple of your mind and heart with the idols of all the divine virtues. Those virtues are: to be free from attachment, free from greed, free from fear, patient and egoless because these are your divine qualities. You children have to make the temple of your mind very bright and clear, that is, completely pure. Only when that temple of yours becomes that bright and clear can you go to your very loving bright and clear Paradise. You are now trying to make your mind completely bright and also to control your physical senses and your mind, which are all influenced by the vices. Not only do you have to serve yourself, you also have to do this divine service of others. In fact, the meaning of doing service is very subtle and deep. Doing service is not just cautioning someone about a mistake; no. You have to send them subtle vibrations with your power of yoga and burn away their impure thoughts. This is most elevated, true service. Together with that, you also have to pay attention to yourselves. Not just to your words and actions; you mustn’t even have any impure thoughts in your minds, because their vibrations reach many others and subtly cause a loss, which would create a burden for you; this burden then becomes a bondage. So, children, be cautious and also do this divine service of others. This is the alokik duty of you serviceable children. Those who do such service should not take any service from others. Even if you happen to make a mistake, correct that for all time with the power of your intellect’s yoga. An intense effort-maker instantly realizes, as soon as he receives even a little signal, and transforms himself and pays proper attention as he moves along from then on. This is the duty of the children with broad intellects. O breath of my life, there is deep significance in completely sacrificing your bodies, minds and wealth into this imperishable sacrificial fire of knowledge of self-sovereignty, created by the Supreme Soul. From the moment you say that you have sacrificed your body, mind and wealth, that is, you have surrendered everything into the sacrificial fire and died, then, from that moment, nothing remains yours. In that, too, you first have to use your body and mind fully for doing service. When everything is for the yagya and God, there can be nothing left for yourself and you cannot even waste any wealth. Even your mind cannot run after impure and sinful thoughts because you have surrendered it to God. God is anyway the Being of purity and peace. Because of this, impure thoughts are automatically quietened. If you put your mind into Maya’s hands, then, because Maya has a variety of forms, many types of sinful thoughts can arise that ride in the mind, the horse. If any child even now still has sinful thoughts, understand that his mind has not been completely sacrificed, that is, his mind does not completely belong to God. Therefore, complete renunciate children, now understand the deep secrets and become detached observers while performing actions and observe yourselves and move along with great caution. Gopi Vallabh Himself is explaining to you, His beloved gopes and gopis what the real and true love of all of you is. O my beloved, you have to accept each other’s loving caution because, however lovely a flower is, the sustenance you receive is accordingly as elevated. In order to make the flowers valuable, the Gardener has to remove thorns from them. In the same way, when someone cautions you, you have to understand that that one is sustaining you, that is, that one is serving you. You have to give regard to that sustenance and service. This is the way to become perfect. This is true, internal love filled with knowledge. Let there be a lot of regard for one another in this divine love. In each aspect, you have to caution yourself first. This is a very sweet and humble stage. By moving along with love in this way, it is as though you will internally experience those beautiful days of the golden age. There, this love will be natural. However, at this sweetest time of the confluence age, this is a very sweet and entertaining love that enables you to serve one another. This pure love is remembered in the world. All of you living flowers have to remain cheerful at every moment because, by having faith in your intellects, your every vein becomes completely filled with God’s power. Power that has such attraction definitely shows its divine miracle. Just as little, innocent children, because they are pure and clean, always keep smiling and they attract everyone a lot with their entertaining activities. In the same way, let the life of each one of you be a Godly and entertaining one. For this, you have to triumph over your devilish nature by using the right method. When you see someone who is influenced by the vice of anger coming towards you, become an embodiment of knowledge and continue to smile with the sweetness of a child and that person will automatically become quiet. That is, from being in a state of forgetfulness, he will become aware. Though he may not be aware of it, attain victory over that one in a subtle way and become the master. This is the most elevated way of being a master and a child. Just as God is the perfect form of knowledge, in the same way, He is also the perfect form of love. Both qualities are merged in God, but first is knowledge and second is love. If someone becomes an embodiment of love without first becoming an embodiment of knowledge, that love takes that one into an impure account. So, merge love and first of all become an embodiment of knowledge. Conquer the Maya that comes in various forms, and then become an embodiment of love. If you become loving without using knowledge, it is possible that you will get sidetracked. For instance, if someone goes into trance (dhyan) without being an embodiment of knowledge (gyan), then they sometimes get trapped in Maya. This is why Baba says: O children, this trance is also a cotton chain. However, when you first become an embodiment of knowledge and then go into trance, there will be great enjoyment. So first is knowledge and then trance. The stage of being full of knowledge is more elevated than the stage of being in trance. This is why, children, you first have to become embodiments of knowledge, and then let the love emerge. Love without knowledge in this effort-making life brings obstacles. The stage of a detached observer is very entertaining, sweet and beautiful. Everything in your future lives depends on this stage. When someone has any physical illness, if he goes through that illness at that time while happily being in the stage of a detached observer, he then settles the suffering of his past karma and, along with that, also accumulates in happiness in his account for the future. This happy stage of a detached observer has a connection with both your past and your future. By understanding this secret, none of you would say that this beautiful time has gone by in just settling accounts. No, this alone is the beautiful time of making effort during which both tasks are accomplished perfectly. The intense effort-makers who accomplish both tasks experience supersensuous joy and bliss. You children have to have full faith in every aspect of the huge variety drama, because this predestined drama is absolutely reliable. Look, this drama enables every living being (human and animal) to play their parts perfectly. Even though someone may be wrong, he plays that part of being wrong perfectly. This is also fixed in the drama. When both wrong and right are fixed in the plan, then, to have doubts about anything is not knowledge, because each actor is playing his own part. In a film, all the different named actors do their own acting and when you see them, it is not that you would dislike some or be happy with others: it is not like that. You know that that is just a play in which each one has received his or her own good or bad part. In the same way, you also have to continue to watch this eternally created film as a detached observer, in a constant and cheerful stage. In any gathering, imbibe all these points very well. Look at one another whilst seeing each one’s divine form. With the knowledge of experience imbibe all the divine virtues. With the awareness of your aim, let the divine virtues of being peaceful, humble, patient, sweet and cool, etc. emerge. The main foundation for imbibing a patient stage is “Wait and see”. O my lovely children, “Wait”, means have patience and “See” means to see. First of all, imbibe the virtue of patience in your hearts, and then see the huge drama externally as detached observers. Until the time for you to hear any secret comes close, you have to have the virtue of patience. When the time comes, when you listen to that secret with the virtue of patience, you will not be disturbed when you hear it. This is why, o effort-making ones, wait a little, and continue to see the secrets as you move along. With this stage of patience, all your tasks will be accomplished perfectly. This virtue is connected with faith. With your intellects having faith be detached observers and while seeing every game with your cheerful faces, you will remain patient and unshakeable internally. This is the mature stage of knowledge which you will have in a practical way at the end, at the time of perfection. So, you have to try hard to remain stable in this stage of a detached observer over a long period of time. In a play, each actor has to rehearse beforehand in order to play the part he has received well. In the same way, in order for you lovely flowers to pass the difficult exam that is to come, you definitely have to rehearsbeforehand with the power of yoga. However, if you haven’t made this effort over a long time, then, you will be nervous and fail at that time. This is why you first have to make your divine foundation firm and become those with divine virtues. By remaining stable in the stage of being an embodiment of knowledge, you automatically have the stage of being an embodiment of peace. When knowledge-full children sit together to listen to a murli, an atmosphere of peace is created all around them because, when they listen to elevated versions, these penetrate deep inside them. Because of going deep into them, they experience deep, sweet silence. For this, you don’t have to sit and make any special effort, but by being stable in a stage of knowledge, you automatically develop this virtue. When you children wake up in the morning and sit in solitude, waves of pure thoughts emerge. At that time, your stage has to be that of being completely beyond. Then, by your stabilising in your original pure thoughts, all others thoughts are quietened automatically and your mind becomes peaceful. You definitely need some power to be able to control your mind. For this, imbibe pure thoughts for your aim. When your intellect has yoga according to your discipline, you will naturally have the stage of being free from any other thoughts. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, to the children who are the garden of knowledge, to the stars of knowledge, love, remembrance and good morning from the Mother, Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1) With the awareness of your aim, imbibe all divine virtues, such as being peaceful, humble, patient, sweet and cool etc.
  2. With faith in your intellect, watch this play as a detached observer with a cheerful face, and become patient and unshakeable internally. You have to work hard to remain stable in the stage of a detached observer over a long period of time.
Blessing: May you become an embodiment of success by serving with a balance of being an image of love and power.
Just as you constantly have love for the Father in one eye and the awareness of the duty (service) given to you by the Father in the other eye, in the same way, along with being a loving image, now also become an image of power. As well as love, let your words be filled with such power that you are able to penetrate anyone’s heart. A mother teaches her child with whatever words that are needed but, because of her love, those words do not feel harsh or bitter. In the same way, tell everyone the true knowledge in clear words. However, let those words be filled with love and you will become an embodiment of success.
Slogan: Make the Almighty Authority Father your Companion and you will be liberated from repentance.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 APRIL 2021 : AAJ KI MURLI

14-04-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अन्तर्मुखी बन ज्ञान रूप अवस्था में रहकर इन महावाक्यों को धारण करो तब अपना व अन्य आत्माओं का कल्याण कर सकेंगे, अपने मन वा दिल रूपी मन्दिर को ईश्वरीय गुणों रूपी मूर्तियों से सजाओ और पवित्र संकल्पों की खुशबू फैलाओ “
प्रश्नः- सर्वोत्तम सच्ची सर्विस कौन सी है? यथार्थ सर्विस का सूक्ष्म और महीन राज़ क्या है?
उत्तर:- जब किसी से कोई भूल होती है तो उसे सावधान करने के साथ सूक्ष्म रीति से अपनी योग शक्ति उन तक पहुंचाकर उनके अशुद्ध संकल्पों को भस्म करना, यही सर्वोत्तम सच्ची सर्विस है। साथ-साथ अपने ऊपर भी अटेन्शन देना, मन्सा में भी कोई अशुद्ध संकल्प उत्पन्न न हो। इसमें खुद भी सावधान रहना और दूसरों प्रति ऐसी दिव्य सर्विस करना, यही सर्विस का सूक्ष्म और महीन राज़ है।

ओम शान्ति। हर एक पुरुषार्थी बच्चे को पहले अन्तर्मुख अवस्था अवश्य धारण करनी है। अन्तर्मुखता में बड़ा ही कल्याण समाया हुआ है, इस अवस्था से ही अचल, स्थिर, धैर्यवत, निर्माणचित इत्यादि दैवी गुणों की धारणा हो सकती है तथा सम्पूर्ण ज्ञानमय अवस्था प्राप्त हो सकती है। अन्तर्मुख न होने के कारण वह सम्पूर्ण ज्ञान रूप अवस्था नहीं प्राप्त होती क्योंकि जो भी कुछ ”महावाक्य“ सम्मुख सुने जाते हैं, अगर उसे गहराई में जाकर ग्रहण नहीं करते सिर्फ उन महावाक्यों को सुनकर रिपीट कर देते हैं तो वह महावाक्य, वाक्य हो जाते हैं। जो ज्ञान रूप अवस्था में रहकर महावाक्य नहीं सुने जाते, उन महावाक्यों पर माया का परछाया पड़ जाता है। अब ऐसी माया के अशुद्ध वायब्रेशन से भरे हुए महावाक्य सुनकर सिर्फ रिपीट करने से खुद सहित औरों का कल्याण होने के बदले अकल्याण हो जाता है इसलिए हे बच्चों एकदम अन्तर्मुखी बन जाओ।

आपका यह मन मन्दिर सदृश्य है। जैसे मन्दिर से सदैव खुशबू आती है ऐसे मन मन्दिर जब पवित्र बनता है तो संकल्प भी पवित्र इमर्ज होते हैं। जैसे मन्दिर में सिर्फ पवित्र देवी देवताओं के ही चित्र रखे जाते हैं, न कि दैत्यों के। ऐसे तुम बच्चे अपने मन व दिल रूपी मन्दिर को सर्व ईश्वरीय गुणों की मूर्तियों से सजा दो, वे गुण हैं – निर्मोह, निर्लोभ, निर्भय, धैर्यवत, निरंहकार इत्यादि क्योंकि यह सब तुम्हारे ही दिव्य लक्षण हैं। आप बच्चों को अपने मन मन्दिर को उजियारा अर्थात् सम्पूर्ण शुद्ध बनाना है। जब मन मन्दिर उजियारा बनें तब ही अपने उजियारे प्यारे वैकुण्ठ देश में चल सकें। तो अब अपने मन को उज्वल बनाने का प्रयत्न करना है तथा मन सहित विकारी कर्मेन्द्रियों को वश करना है। परन्तु न सिर्फ अपना मगर अन्य प्रति भी यही दिव्य सर्विस करनी है।

वास्तव में सर्विस का अर्थ अति सूक्ष्म और महीन है। ऐसा नहीं कि किसकी भूल पर सिर्फ सावधान करना इतने तक सर्विस है। परन्तु नहीं, उनको सूक्ष्म रीति अपनी योग की शक्ति पहुंचाए उनके अशुद्ध संकल्प को भस्म कर देना, यही सर्वोत्तम सच्ची सर्विस है और साथ-साथ अपने ऊपर भी अटेन्शन रखना है। न सिर्फ वाचा अथवा कर्मणा तक मगर मन्सा में भी कोई अशुद्ध संकल्प उत्पन्न होता है तो उनका वायब्रेशन अन्य के पास जाए सूक्ष्म रीति अकल्याण करता है, जिसका बोझ खुद पर आता है और वही बोझ बन्धन बन जाता है इसलिए हे बच्चों खुद सावधान रहो फिर अन्य प्रति वही दिव्य सर्विस करो, यही आप सेवाधारी बच्चों का अलौकिक कर्तव्य है। ऐसी सर्विस करने वालों को फिर अपने प्रति कोई भी सर्विस नहीं लेनी है। भल कभी कोई अनायास भूल हो भी जाए तो उसे अपने बुद्धियोग बल से सदैव के लिए करेक्ट कर देना है। ऐसा तीव्र पुरुषार्थी थोड़ा भी ईशारा मिलने से शीघ्र महसूस करके परिवर्तन कर लेता है और आगे के लिए अच्छी रीति अटेन्शन रख चलता है, यही विशाल बुद्धि बच्चों का कर्तव्य है।

हे मेरे प्राणों, परमात्मा द्वारा रचे हुए इस अविनाशी राजस्व ज्ञान यज्ञ प्रति तन, मन, धन को सम्पूर्ण रीति से स्वाहा करने का राज़ बहुत महीन है। जिस घड़ी आप कहते हो कि मैं तन मन धन सहित यज्ञ में स्वाहा अर्थात् अर्पण हो मर चुका, उस घड़ी से लेकर अपना कुछ भी नहीं रहता। उसमें भी पहले तन, मन को सम्पूर्ण रीति से सर्विस में लगाना है। जब सब कुछ यज्ञ अथवा परमात्मा के प्रति है तो फिर अपने प्रति कुछ रह नहीं सकता, धन भी व्यर्थ नहीं गंवा सकते। मन भी अशुद्ध संकल्प विकल्प तरफ दौड़ नहीं सकता क्योंकि परमात्मा को अर्पण कर दिया। अब परमात्मा तो है ही शुद्ध शान्त स्वरूप। इस कारण अशुद्ध संकल्प स्वत: शान्त हो जाते हैं। अगर मन माया के हाथ में दे देते हो तो माया वैरायटी रूप होने के कारण अनेक प्रकारों के विकल्प उत्पन्न कर मन रूपी घोड़े पर आए सवारी करती है। अगर किसी बच्चे को अभी तक भी संकल्प विकल्प आते हैं तो समझना चाहिए कि अभी मन पूर्ण रीति से स्वाहा नहीं हुआ है अर्थात् ईश्वरीय मन नहीं बना है इसलिए हे सर्व त्यागी बच्चों, इन गुह्य राज़ों को समझ कर्म करते साक्षी हो खुद को देख बहुत खबरदारी से चलना है।

स्वयं गोपी वल्लभ तुम अपने प्रिय गोप गोपियों को समझा रहे हैं कि तुम हर एक का वास्तविक सच्चा प्रेम कौन सा है! हे प्राणों तुम्हें एक दो की प्रेम भरी सावधानी को स्वीकार करना है क्योंकि जितना प्रिय फूल उतना ही श्रेष्ठ परवरिश। फूल को वैल्युबुल बनाने अर्थ माली को कांटों से निकालना ही पड़ता है। वैसे तुम्हें भी जब कोई सावधानी देता है तो समझना चाहिए जैसेकि उसने मेरी परवरिश की अर्थात् मेरी सर्विस की। उस सर्विस अथवा परवरिश को रिगार्ड देना है, यही सम्पूर्ण बनने की युक्ति है। यही ज्ञान सहित आन्तरिक सच्चा प्रेम है। इस दिव्य प्रेम में एक दो के लिए बहुत रिगार्ड होना चाहिए। हर एक बात में पहले खुद को ही सावधान करना है, यही निर्माणचित अति मधुर अवस्था है। ऐसे प्रेम पूर्वक चलने से तुम्हें जैसे यहाँ ही वे सतयुग के सुहावने दिन आन्तरिक महसूस होंगे। वहाँ तो यह प्रेम नेचुरल रहता है परन्तु इस संगम के स्वीटेस्ट समय पर एक दो के लिए सर्विस करने का यह अति मीठा रमणीक प्रेम है, यही शुद्ध प्रेम जग में गाया हुआ है।

तुम हर एक चैतन्य फूलों को हरदम हर्षित मुख हो रहना है क्योंकि निश्चय बुद्धि होने के कारण तुम्हारी नस नस में सम्पूर्ण ईश्वरीय ताकत समाई हुई है। ऐसी आकर्षण शक्ति अपना दिव्य चमत्कार अवश्य निकालती है। जैसे छोटे निर्दोष बच्चे शुद्ध पवित्र होने कारण सदैव हंसते रहते हैं और अपने रमणीक चरित्र से सबको बहुत खींचते हैं। वैसे तुम हर एक की ऐसी ईश्वरीय रमणीक जीवन होनी चाहिए, इसके लिए तुम्हें किसी भी युक्ति से अपने आसुरी स्वभावों पर जीत प्राप्त करनी है। जब कोई को देखो कि यह क्रोध विकार के वश हो मेरे सामने आता है तो उनके सामने ज्ञान रूप हो बचपन की मीठी रीति से मुस्कराते रहो तो वह खुद शान्तिचत हो जायेगा अर्थात् विस्मृति स्वरूप से स्मृति में आ जायेगा। भल उनको पता न भी पड़े लेकिन सूक्ष्म रीति से उनके ऊपर जीत पाकर मालिक बन जाना, यही मालिक और बालकपन की सर्वोच्च शिरोमणि विधि है।

ईश्वर जैसे सम्पूर्ण ज्ञान रूप वैसे फिर सम्पूर्ण प्रेम रूप भी है। ईश्वर में दोनों ही क्वालिटीज़ समाई हुई हैं परन्तु फर्स्ट ज्ञान, सेकण्ड प्रेम। अगर कोई पहले ज्ञान रूप बनने बिगर सिर्फ प्रेम रूप बन जाता है तो वह प्रेम अशुद्ध खाते में ले जाता है इसलिए प्रेम को मर्ज कर पहले ज्ञान रूप बन भिन्न-भिन्न रूपों में आई हुई माया पर जीत पाकर पीछे प्रेम रूप बनना है। अगर ज्ञान बिगर प्रेम में आये तो कहाँ विचलित भी हो जायेंगे। जैसे अगर कोई ज्ञान रूप बनने के बिगर ध्यान में जाते हैं तो कई बार माया में फंस जाते हैं, इसलिए बाबा कहते हैं बच्चे, यह ध्यान भी एक सूत की जंजीर है परन्तु ज्ञान रूप बन पीछे ध्यान में जाने से अति मौज का अनुभव होता है। तो पहले है ज्ञान पीछे है ध्यान। ध्यानिष्ट अवस्था से ज्ञानिष्ट अवस्था श्रेष्ठ है। इसलिए हे बच्चों, पहले ज्ञान रूप बन फिर प्रेम इमर्ज करना है। ज्ञान बिगर सिर्फ प्रेम इस पुरुषार्थी जीवन में विघ्न डालता है।

साक्षीपन की अवस्था अति मीठी, रमणीक और सुन्दर है। इस अवस्था पर ही आगे की जीवन का सारा मदार है। जैसे कोई के पास कोई शारीरिक भोगना आती है। उस समय अगर वह साक्षी, सुखरूप अवस्था में उपस्थित हो उसे भोगता है तो पास्ट कर्मो को भोग चुक्तू भी करता है और साथ साथ फ्युचर के लिए सुख का हिसाब भी बनाता है। तो यह साक्षीपन की सुखरूप अवस्था पास्ट और फ्युचर दोनों से कनेक्शन रखती है। तो इस राज़ को समझने से कोई भी ऐसे नहीं कहेगा कि मेरा यह सुहावना समय सिर्फ चुक्तू करने में चला गया। नहीं, यही सुहावना पुरुषार्थ का समय है जिस समय दोनों कार्य सम्पूर्ण रीति सिद्ध होते हैं। ऐसे दोनों कार्य को सिद्ध करने वाला तीव्र पुरुषार्थी ही अतीन्द्रिय सुख वा आनंद के अनुभव में रहता है।

इस वैरायटी विराट ड्रामा की हर एक बात में तुम बच्चों को सम्पूर्ण निश्चय होना चाहिए क्योंकि यह बना बनाया ड्रामा बिल्कुल वफादार है। देखो, यह ड्रामा हर एक जीव प्राणी से उनका पार्ट पूर्ण रीति से बजवाता है। भल कोई रांग है, तो वह रांग पार्ट भी पूर्ण रीति से बजाता है। यह भी ड्रामा की नूंध है। जब रांग और राइट दोनों ही प्लैन में नूंधे हुए हैं तो फिर कोई बात में संशय उठाना, यह ज्ञान नहीं है क्योंकि हर एक एक्टर अपना-अपना पार्ट बजा रहा है। जैसे बाइसकोप में अनेक भिन्न-भिन्न नाम रूपधारी एक्टर्स अपनी-अपनी एक्टिंग करते हैं तो उनको देख, किससे नफरत आवे और किससे हर्षित होवे, ऐसा नहीं होता है। पता है कि यह एक खेल है, जिसमें हर एक को अपना अपना गुड वा बेड पार्ट मिला हुआ है। वैसे ही इस अनादि बने हुए बाइसकोप को भी साक्षी हो एकरस अवस्था से हर्षितमुख हो देखते रहना है। संगठन में यह प्वाइंट बहुत अच्छी रीति धारण करनी है। एक दो को ईश्वरीय रूप से देखना है, महसूसता का ज्ञान उठाए सर्व ईश्वरीय गुणों की धारणा करनी है। अपने लक्ष्य स्वरूप की स्मृति से शान्त चित, निर्माणचित, धैर्यवत, मिठाज़, शीतलता इत्यादि सर्व दैवी गुण इमर्ज करने हैं।

धैर्यवत अवस्था धारण करने का मुख्य फाउण्डेशन – वेट एण्ड सी। हे मेरे प्रिय बच्चों, वेट अर्थात् धैर्य धरना, सी अर्थात् देखना। अपने दिल भीतर पहले धैर्यवत गुण धारण कर उसके बाद फिर बाहर में विराट ड्रामा को साक्षी हो देखना है। जब तक कोई भी राज़ सुनने का समय समीप आवे तब तक धैर्यवत गुण की धारणा करनी है। समय आने पर उस धैर्यता के गुण से राज़ सुनने में कभी भी विचलित नहीं होंगे। इसलिए हे पुरुषार्थी प्राणों, जरा ठहरो और आगे बढ़कर राज़ देखते चलो। इस ही धैर्यवत अवस्था से सारा कर्तव्य सम्पूर्ण रीति से सिद्ध होता है। यह गुण निश्चय से बांधा हुआ है। ऐसे निश्चयबुद्धि साक्षी दृष्टा हो हर खेल को हर्षित चेहरे से देखते आन्तरिक धैर्यवत और अडोलचित रहते हैं, यही ज्ञान की परिपक्व अवस्था है जो अन्त में सम्पूर्णता के समय प्रैक्टिकल में रहती है इसलिए बहुत समय से लेकर इस साक्षीपन की अवस्था में स्थित रहने का परिश्रम करना है।

जैसे नाटक में एक्टर को अपना मिला हुआ पार्ट पूर्ण बजाने अर्थ आगे से ही रिहर्सल करनी पड़ती है, वैसे तुम प्रिय फूलों को भी आने वाली भारी परीक्षाओं से योग बल द्वारा पास होने के लिए आगे से ही रिहर्सल अवश्य करनी है। लेकिन बहुत समय से लेकर अगर यह पुरुषार्थ किया हुआ नहीं होगा तो उस समय घबराहट में फेल हो जायेंगे, इसलिए पहला अपना ईश्वरीय फाउण्डेशन पक्का रख दैवीगुणधारी बन जाना है।

ज्ञान स्वरूप स्थिति में स्थित रहने से स्वत: शान्त रूप अवस्था हो जाती है। जब ज्ञानी तू आत्मा बच्चे, इकट्ठे बैठकर मुरली सुनते हैं तो चारों तरफ शान्ति का वायुमण्डल बन जाता है क्योंकि वे कुछ भी महावाक्य सुनते हैं तो आन्तरिक डीप चले जाते हैं। डीप जाने के कारण आन्तरिक उन्हों को शान्ति की मीठी महसूसता होती है। अब इसके लिए कोई खास बैठकर मेहनत नहीं करनी है परन्तु ज्ञान की अवस्था में स्थित रहने से यह गुण अनायास आ जाता है। तुम बच्चे जब सवेरे सवेरे उठकर एकान्त में बैठते हो तो शुद्ध विचारों रूपी लहरें उत्पन्न होती हैं, उस समय बहुत उपराम अवस्था होनी चाहिए। फिर अपने निज़ शुद्ध संकल्प में स्थित होने से अन्य सब संकल्प आपेही शान्त हो जायेंगे और मन अमन हो जायेगा क्योंकि मन को वश करने अर्थ भी कोई ताकत तो अवश्य चाहिए इसलिए पहले अपने लक्ष्य स्वरूप के शुद्ध संकल्प को धारण करो। जब आन्तिरक बुद्धियोग कायदे प्रमाण होगा तो तुम्हारी यह निरसंकल्प अवस्था स्वत: हो जायेगी। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे, ज्ञान गुल्जारी, ज्ञान सितारों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने लक्ष्य स्वरूप की स्मृति से शान्त चित, निर्माणचित, धैर्यवत, मिठाज़, शीतलता आदि सर्व दैवी गुण धारण करने है।

2) निश्चयबुद्धि साक्षी दृष्टा हो इस खेल को हर्षित चेहरे से देखते आन्तरिक धैर्यवत और अडोलचित रहना है। बहुत समय से लेकर इस साक्षीपन की अवस्था में स्थित रहने का परिश्रम करना है।

वरदान:- स्नेह और शक्ति रूप के बैलेन्स द्वारा सेवा करने वाले सफलतामूर्त भव
जैसे एक आंख में बाप का स्नेह और दूसरी आंख में बाप द्वारा मिला हुआ कर्तव्य (सेवा) सदा स्मृति में रहता है। ऐसे स्नेही-मूर्त के साथ-साथ अभी शक्ति रूप भी बनो। स्नेह के साथ-साथ शब्दों में ऐसा जौहर हो जो किसी का भी हृदय विदीरण कर दे। जैसे माँ बच्चों को कैसे भी शब्दों में शिक्षा देती है तो माँ के स्नेह कारण वह शब्द तेज वा कडुवे महसूस नहीं होते। ऐसे ही ज्ञान की जो भी सत्य बातें हैं उन्हें स्पष्ट शब्दों में दोöलेकिन शब्दों में स्नेह समाया हुआ हो तो सफलतामूर्त बन जायेंगे।
स्लोगन:- सर्वशक्तिमान् बाप को साथी बना लो तो पश्चाताप से छूट जायेंगे।

TODAY MURLI 13 APRIL 2021 DAILY MURLI (English)

13/04/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you children are numberwise in knowing the Father as He is and what He is. If everyone were to recognise Him, there would be a huge crowd here.
Question: When will the sound of revelation spread everywhere?
Answer: When human beings find out that God, Himself, has come to carry out the establishment of the new world by destroying this old world. The Father who bestows salvation on everyone has come to grant us the fruit of our devotion. When there is this faith, revelation will take place and there will be upheaval everywhere.
Song: The rain of knowledge is for those who are with the Beloved. 

Om shanti. You children heard two lines of the song. The rain is for those who are with the Beloved. The world doesn’t know who the Beloved is. Although there are many children, many of them don’t know how they should remember the Father. They don’t know how to remember Him; they repeatedly forget Him. The Father explains: Children, consider yourselves to be souls. You are points. The Father is the Ocean of Knowledge and you have to remember Him. Instil in yourselves such a practice of remembrance that remembrance becomes constant. At the end you should only remember: I am a soul. Each of you has a body, but keep the knowledge of being a soul in your intellect. You have received the Father’s direction. Hardly anyone remembers Me as I am. Children become very body conscious. The Father has explained that, until you give the Father’s introduction to someone, he or she won’t be able to understand anything. First of all, they should know that incorporeal One is our Father, the God of the Gita, that He is the Bestower of Salvation for All. At this time, He is playing the part of granting salvation. If they had faith in their intellects regarding this point, all the sages and holy men etc. would come here in a second; there would be great chaos in Bharat. If they were to know that this world is now to be destroyed, there would be a queue from Bombay to Abu. However, no one can have such faith that quickly. You know that destruction has to take place. All of them will remain sleeping in a deep slumber. Then, at the end, your influence will spread. To have faith in the aspect of the God of the Gita being the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, is not like going to your aunty’s home! If this were to become well known, there would be that sound throughout the whole of Bharat. As yet, when you explain to someone, someone else would tell him that a magic spell has been cast on him. This tree has to grow very slowly. There is still a little time left. You still have time to make effort. You explain to prominent people but they don’t understand anything. Among you children too, some of you don’t understand this knowledge. If there isn’t remembrance of the Father, there cannot be that stage. The Father understands what your faith is. As yet, some of you hardly remember the Father even one or two per cent. Although they may be sitting here, they don’t have that love for the Father. There has to be love and fortune here. If they had love for the Father, they would understand that they have to follow shrimat at every step. We are becoming the masters of the world. There is the body consciousness of half the cycle and this is why it now takes a lot of effort to become soul conscious. To consider yourself to be a soul and to remember the most beloved Father is not like going to your aunty’s home! If they did this, there would be such sparkle on their faces. When a girl gets married and puts on jewellery, there is so much happiness on her face. However, here, some don’t even remember the Bridegroom, and so their faces remain wilted, don’t even ask. When a girl gets married, her face becomes very happy whereas the faces of some girls remain like that of a corpse even after getting married. There are all sorts. Some become confused when they go to the other home. It is the same here. Effort is needed to remember the Father. It is remembered of the final moments: “Ask the gopes and gopis about supersensuous joy.” You have to create the stage of considering yourselves to be gopes and gopis and of having constant remembrance of the Father. Give everyone the Father’s introduction. The Father has come and is giving you that inheritance. All the knowledge is included in this. At the end, when Lakshmi and Narayan were completing their 84 births, the Father came and taught them Raja Yoga and gave them their kingdom. The picture of Lakshmi and Narayan is a number one picture. You know that they performed such actions in their previous birth and the Father is now teaching you how to perform those actions. He says: Become “Manmanabhav”! Remain pure! Don’t commit any sin, because you are now becoming charitable souls, the masters of heaven. Maya, Ravan, has made you commit sin for half the cycle. Now, ask yourself: Do I commit any sins? Do I continue to perform charitable actions? Have I become a stick for the blind? The Father says: Become “Manmanabhav”! You have to ask: Who said: Manmanabhav? Those people claim that Krishna said this. You know that the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, said it. There is the difference of day and night. Together with the birthday of Shiva, there is also the birthday of the Gita. Together with the birthday of the Gita, there is also the birthday of Krishna. You know that you will become the future princes. You have to change from beggars into princes. This is the aim and objective of Raja Yoga. You can prove that the God of the Gita was not Shri Krishna, but the incorporeal One and the notion of omnipresence will then be thrown out. Only the Father is the Bestower of Salvation for All and the Purifier. He is also called the Liberator. However, people say that He is omnipresent. They don’t understand anything they say. They say of religion whatever enters their minds. There are three main religions. The deity religion continues for half the cycle. You know the Father establishes the Brahmin, deity and warrior religions. The world doesn’t know this. They consider the duration of the golden age to be hundreds of thousands of years. The original, eternal deity religion is the most elevated of all religions. However, they have forgotten their own religion and have become irreligiousChristians don’t renounce their religion. They know that Christ established their religion. Islam, Buddhism and Christianity are the main religions. There are also many other smaller religions. No one knows where this expansion began. It has only been a short time since the existence of Mohammed. Those of Islam are very old. The Christians are very well known, and there are also so many others. Everyone has his or her own religion. They have their own different religions and different names and have therefore become confused. They don’t know that there are only four main religious scriptures. Deityism and Brahmanism are included in those. Brahmins become deities, who then become warriors. No one knows this. It is sung: Salutations to the Brahmins. The Supreme Father, the Supreme Soul, came and established the Brahmin, deity and warrior religions. These terms exist but they read everything like parrots. This is a jungle of thorns. People believe that Bharat used to be a garden of flowers. However, no one knows when it was created, how it was created or who created it. They don’t know who the Supreme Soul is. Therefore, they have become orphans. This is why there is so much battling and fighting. They simply continue to become happy performing devotion. The Father has now come to bring light. He grants you liberation-in-life in a second. When the Satguru gives you the ointment of knowledge, the darkness of ignorance is dispelled. You understand that we are now in the light. The Father has given each of you a third eye. Although the deities have been shown with a third eye, people don’t understand the meaning of that. In fact, you have a third eye, but they have shown the deities with a third eye. There is no mention of Brahmins in the Gita. They have shown a war between the Kauravas and the Pandavas and a horse-drawn chariot in the Gita. They don’t understand anything. When you explain to them, they tell you: You don’t even believe in the scriptures! You can tell them why we don’t believe in the scriptures. It is because we know that all of them are the paraphernalia of the path of devotion. Knowledge and devotion are remembered. Devotion begins when Ravan’s kingdom begins. The people of Bharat go onto the path of sin and become corrupt in their religion and actions, and this is why they now call themselves Hindus. They have now become impure. Who made them impure? Ravan! People burn an effigy of Ravan. They think it has continued since time immemorial. However, the kingdom of Ravan didn’t exist in the golden age. They don’t understand anything. Maya has completely made their intellects completely into stone. Only the Father changes you from stone into divine beings. It is only after you have gone into the iron age that the golden age can be established. The Father explains this, but it scarcely sits in anyone’s intellect. You kumaris have now become engaged. He is making you into queens. You were abducted, that is, you souls are told: You belonged to Me and you then forgot Me. You became body conscious and belonged to Maya. However, there is no question of running away or being abducted. Constantly remember Me alone. Only in remembrance is there effort. Many become body conscious and perform sinful actions. The Father knows that some souls don’t remember Him at all. They become body conscious and commit a lot of sin and thereby the urn of sin becomes one hundredfold full. Instead of showing the path to others, they themselves forget the path. They then become even more degraded. The destination is very high. Those who climb up taste the sweetness of the nectar of heaven. Those who fall are totally crushed. A kingdom is being established. Look how much difference is created! Some study and reach the sky, whereas others fall to the ground. If their intellects are dull, they cannot study. Some tell Baba that they are unable to explain to others. Baba says: OK, just consider yourselves to be souls and remember Me, your Father, and I will grant you happiness. However, you don’t remember Me at all. If you remembered the Father, you would also remind others. When you remember the Father, your sins are absolved. You cannot go to the land of happiness unless you remember Him. You can receive an inheritance for 21 births from the incorporeal Father. All the rest only give temporary happiness. When someone has a child or receives blessings and wins a lottery through occult power, that faith is then instilled. If someone benefits by two or four million, he praises the one from whom he received it, but all of that is temporary: he cannot receive health or wealth for 21 births. However, human beings don’t know anything, so you can’t blame them. They simply become happy with temporary happiness. The Father teaches you children Raja Yoga and gives you the sovereignty of heaven. It is so easy! Some are unable to explain anything at all. Some do understand but, because they don’t have accurate yoga, the arrow doesn’t strike anyone. By becoming body conscious, one sin or another is committed. Yoga is the main thing. It is through the power of yoga that you become the masters of the world. God, not Krishna, taught you ancient yoga. The pilgrimage of remembrance is very good. When you go and see a drama, all the scenes emerge in your mind. However, it would take time to narrate those to someone. It is the same here. The Seed and the tree; this cycle is very clear. It is a matter of a second: the land of peace, the land of happiness and the land of sorrow. However, you should be able to remember that. The main thing is the Father’s introduction. The Father says: By remembering Me, you will come to know everything. Achcha. Shiv Baba remembers you children. Brahma Baba doesn’t remember you. Shiv Baba knows who His worthy children are. He would of course remember His serviceable, worthy children. This one would not remember anyone. This soul has received the direction: Constantly remember Me alone! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. In order to become fortunate, have true love for the one Father. To have love means to continue to follow the shrimat of One at every step.
  2. Definitely perform acts of charity. The biggest act of charity is to give everyone the Father’s introduction. Remember the Father and remind everyone of the Father.
Blessing: May you be a responsible soul who, along with doing physical work, does the work of world transformation with your mind.
While doing any physical work, always have the awareness that you are an instrument for the service of world benefit on the world stage. “I have received a huge responsibility to do the task of world transformation with my elevated state of mind. “When you have this awareness, all carelessness will finish and instead of wasting time, you will save it. While considering every second to be invaluable, you will continue to use it in a worthwhile way for world benefit and for the task of transforming the non-living and the living.
Slogan: Now, instead of being warriors, become yogis.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 APRIL 2021 : AAJ KI MURLI

13-04-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप जो है, जैसा है, तुम बच्चों में भी नम्बरवार पहचानते हैं, अगर सब पहचान लें तो बहुत भीड़ मच जाये”
प्रश्नः- चारों ओर प्रत्यक्षता का आवाज कब फैलेगा?
उत्तर:- जब मनुष्यों को पता पड़ेगा कि स्वयं भगवान इस पुरानी दुनिया का विनाश कराके नई दुनिया स्थापन करने आये हैं। 2- हम सबकी सद्गति करने वाला बाप हमें भक्ति का फल देने आया है। यह निश्चय हो तो प्रत्यक्षता हो जाए। चारों ओर हलचल मच जाए।
गीत:- जो पिया के साथ है…. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत की दो लाइन सुनी। जो पिया के साथ है, अब पिया कौन है! यह दुनिया नहीं जानती। भल ढेर बच्चे हैं, उनमें भी बहुत हैं जो नहीं जानते हैं कि किस प्रकार से बाप को याद करना चाहिए। वह याद करने नहीं आता। घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। बाप समझाते हैं बच्चे अपने को आत्मा समझो, हम बिन्दी हैं। बाप, ज्ञान का सागर है, उनको ही याद करना है। याद करने की ऐसी प्रैक्टिस पड़ जाए जो निरन्तर याद ठहर जाये। पिछाड़ी में यही याद रहे कि हम आत्मा हैं, शरीर तो है परन्तु यह ज्ञान बुद्धि में रखना है कि हम आत्मा हैं। बाप का डायरेक्शन मिला हुआ है मैं जो हूँ, उस रूप में कोई विरला याद करते हैं। देह-अभिमान में बच्चे बहुत आ जाते हैं। बाप ने समझाया है, कोई को भी जब तक बाप का परिचय नहीं दिया है तब तक कुछ भी समझ नहीं सकेंगे। पहले तो उन्हों को यह मालूम पड़े कि वह निराकार हमारा बाप, गीता का भगवान है, वही सर्व का सद्गति दाता है। वह इस समय सद्गति करने का पार्ट बजा रहे हैं। इस प्वाइंट में निश्चयबुद्धि हो जाएं तो फिर जो भी इतने साधू-सन्त आदि हैं सब एक सेकण्ड में आ जायें। भारत में बड़ा हंगामा मच जाये। अभी मालूम पड़ जाये कि यह दुनिया विनाश होने वाली है। इस बात का निश्चय हो जाए तो बम्बई से लेकर आबू तक क्यू लग जाये। लेकिन इतना जल्दी कोई को निश्चय नहीं हो सकता। तुम जानते हो विनाश होना है, यह सब घोर निद्रा में सोये ही रहने हैं। फिर अन्त समय तुम्हारा प्रभाव निकलेगा। मासी का घर नहीं है जो इस बात में निश्चय हो जाए कि गीता का भगवान परमपिता पर-मात्मा शिव है। यह प्रसिद्ध हो जाए तो सारे भारत में आवाज हो जाये। अभी तो तुम एक को समझायेंगे तो दूसरा कहेगा तुमको जादू लग गया है। यह झाड़ बहुत धीरे-धीरे बढ़ना है। अभी थोड़ा टाइम है फिर भी पुरूषार्थ करने में हर्जा नहीं है। तुम बड़े-बड़े लोगों को समझाते हो, परन्तु वे कुछ भी समझते थोड़ेही हैं। बच्चों में भी कई इस नॉलेज को समझते नहीं हैं। बाप की याद नहीं तो वह अवस्था नहीं। बाप जानते हैं निश्चय किसको कहा जाता है। अभी तो कोई 1-2 परसेन्ट भी मुश्किल बाप को याद करते हैं। भल यहाँ बैठे हैं, बाप के साथ वह लव नहीं रहता। इसमें लव चाहिए, तकदीर चाहिए। बाप से लव हो तो समझें, हमको कदम-कदम श्रीमत पर चलना है। हम विश्व के मालिक बनते हैं। आधाकल्प का देह-अभिमान बैठा हुआ है सो अब देही-अभिमानी बनने में बड़ी मेहनत लगती है। अपने को आत्मा समझ मोस्ट बिलवेड बाप को याद करना मासी का घर नहीं है। उनके चेहरे में ही रौनक आ जाए। कन्या शादी करती है, जेवर आदि पहनती है तो चेहरे में एकदम खुशी आ जाती है। परन्तु यहाँ तो साजन को याद ही नहीं करते तो वह शक्ल मुरझाई हुई रहती है। बात मत पूछो। कन्या शादी करती है तो चेहरा खुशनुम: हो जाता है। कोई की तो शादी के बाद भी शक्ल मुर्दे जैसी रहती है। किसम-किसम के होते हैं। कोई तो दूसरे घर में जाकर मूँझ पड़ती हैं। तो यहाँ भी ऐसे है। बाप को याद करने की मेहनत है। यह गायन अन्त का है कि अतीन्द्रिय सुख गोपी वल्लभ के गोप-गोपियों से पूछो। अपने को गोप-गोपी समझना और निरन्तर बाप को याद करना, वह अवस्था होनी है। बाप का परिचय सबको देना है। बाप आया हुआ है वो वर्सा दे रहे हैं। इसमें सारी नॉलेज आ जाती है। लक्ष्मी-नारायण ने जब 84 जन्म पूरे किये तब बाप ने अन्त में आकर उन्हों को राजयोग सिखाकर राजाई दी। लक्ष्मी-नारायण का यह चित्र है नम्बरवन। तुम जानते हो उन्होंने आगे जन्म में ऐसे कर्म किये हैं, वह कर्म अब बाप सिखला रहे हैं। कहते हैं मनमनाभव, पवित्र रहो। कोई भी पाप मत करो क्योंकि तुम अभी स्वर्ग के मालिक, पुण्य आत्मा बनते हो। आधाकल्प माया रावण पाप कराती आई है। अब अपने से पूछना है – हमसे कोई पाप तो नहीं होता है? पुण्य का काम करते रहते हैं? अन्धों की लाठी बने हैं? बाप कहते हैं मनमना-भव। यह भी पूछना होता है कि मनमनाभव किसने कहा? वह कहेंगे कृष्ण ने कहा। तुम मानते हो परमपिता परमात्मा शिव ने कहा। रात-दिन का फर्क है। शिव जयन्ती के साथ है गीता जयन्ती। गीता जयन्ती के साथ कृष्ण जयन्ती।

तुम जानते हो हम भविष्य में प्रिन्स बनेंगे। बेगर टू प्रिन्स बनना है। यह एम-आब्जेक्ट ही राजयोग की है। तुम सिद्ध कर बताओ कि गीता का भगवान श्रीकृष्ण नहीं था, वह तो निराकार था। तो सर्वव्यापी का ज्ञान उड़ जाए। सर्व का सद्गति दाता, पतित-पावन बाप है। कहते भी हैं कि वह लिबरेटर है, फिर सर्वव्यापी कह देते। जो कुछ बोलते हैं, समझते नहीं हैं। धर्म के बारे में जो आता है, बोल देते हैं। मुख्य धर्म हैं तीन। देवी देवता धर्म तो आधाकल्प चलता है। तुम जानते हो बाप ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय धर्म स्थापन करते हैं। यह दुनिया नहीं जानती। वह तो सतयुग को ही लाखों वर्ष कह देते हैं। आदि सनातन देवी देवता धर्म है सबसे ऊंचा, परन्तु यह अपने धर्म को भूल इरिलीजियस बन पड़े हैं। क्रिश्चियन लोग अपने धर्म को नहीं छोड़ते। वह जानते हैं – क्राइस्ट ने हमारा धर्म स्थापन किया था। इस्लामी, बौद्धी, फिर क्रिश्चियन, यह हैं मुख्य धर्म। बाकी तो छोटे-छोटे बहुत हैं। कहाँ से वृद्धि हुई? यह कोई नहीं जानता। मुहम्मद को अभी थोड़ा समय हुआ है, इस्लामी पुराने हैं। क्रिश्चियन भी मशहूर हैं। बाकी तो कितने ढेर हैं। सबका अपना-अपना धर्म है। अपना भिन्न-भिन्न धर्म, भिन्न-भिन्न नाम हैं तो मूँझ गये हैं। यह नहीं जानते कि मुख्य धर्मशास्त्र ही 4 हैं। इसमें डिटीज्म, ब्राह्मणिज्म भी आ जाते हैं। ब्राह्मण सो देवता, देवता सो क्षत्रिय, यह किसको पता नहीं। गाते हैं ब्राह्मण देवताए नम:। परमपिता ने ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय धर्म की स्थापना की, अक्षर हैं परन्तु पढ़ते ऐसे हैं जैसे तोते।

यह है कांटों का जंगल। भारत गॉर्डन ऑफ फ्लॉवर था, यह भी मानते हैं। परन्तु वह कब, कैसे, किसने बनाया, परमात्मा क्या चीज़ है, यह कोई नहीं जानते। तो आरफन हो गये ना इसलिए यह लड़ाई-झगड़े आदि हैं। सिर्फ भक्ति में खुश होते रहते हैं। अब बाप आये हैं सोझरा करने, सेकेण्ड में जीवनमुक्त बना देते हैं। ज्ञान अंजन सतगुरू दिया, अज्ञान अन्धेर विनाश। अभी तुम जानते हो हम सोझरे में हैं। बाप ने तीसरा नेत्र दिया है। भल देवताओं को तीसरा नेत्र दिखाते हैं परन्तु अर्थ नहीं जानते। वास्तव में तीसरा नेत्र तुमको है। उन्होंने फिर दे दिया है देवताओं को। गीता में ब्राह्मणों की कोई बात नहीं। उसमें तो फिर कौरव, पाण्डवों आदि की लड़ाई, घोड़े-गाड़ी आदि लिख दी है, कुछ भी समझते नहीं। तुम समझायेंगे तो कहेंगे तुम शास्त्रों आदि को नहीं मानते। तुम कह सकते हो हम शास्त्रों को मानते क्यों नहीं हैं, जानते हैं – यह सब भक्ति मार्ग की सामग्री है। गाया हुआ है ज्ञान और भक्ति। जब रावण राज्य होता है तब भक्ति शुरू होती है। भारतवासी वाम मार्ग में जाकर धर्म भ्रष्ट और कर्म भ्रष्ट बन जाते हैं इसलिए अब हिन्दू कहला दिया है। पतित बन गये हैं। पतित किसने बनाया? रावण ने। रावण को जलाते भी हैं, समझते हैं यह परम्परा से चला आता है। परन्तु सतयुग में तो रावण राज्य ही नहीं था। कुछ भी समझते नहीं। माया बिल्कुल ही पत्थरबुद्धि बना देती है। पत्थर से पारस बाप ही बनाते हैं। जब आइरन एज में आये तब तो आकर गोल्डन एज स्थापन करें। बाप समझाते हैं फिर भी बड़ा मुश्किल किसकी बुद्धि में बैठता है।

तुम कुमारियों की अब सगाई होती है। तुमको पटरानी बनाते हैं। तुमको भगाया अर्थात् तुम आत्माओं को कहते हैं – तुम मेरे थे फिर तुम मुझे भूल गये हो। देह-अभिमानी बन माया के बन गये हो। बाकी भगाने आदि की तो बात नहीं है। मामेकम् याद करो। याद की ही मेहनत है। बहुत देह-अभिमान में आकर विकर्म करते हैं। बाप जानते हैं यह आत्मा मुझे याद ही नहीं करती है। देह-अभिमान में आकर बहुत पाप करते हैं तो पाप का घड़ा सौगुणा भर जाता है। औरों को रास्ता बताने के बदले खुद ही भूल जाते हैं। और ही जास्ती दुर्गति को पा लेते हैं। बड़ी ऊंची मंजिल है। चढ़े तो चाखे वैकुण्ठ रस, गिरे तो चकनाचूर। यह राजाई स्थापन हो रही है। इसमें फ़र्क देखो कितना पड़ जाता है। कोई तो पढ़कर आसमान में चढ़ जाते हैं, कोई पट में पड़ जाते हैं। बुद्धि डल होती है तो पढ़ नहीं सकते हैं। कोई-कोई कहते हैं बाबा हम किसको समझा नहीं सकते हैं। कहता हूँ अच्छा सिर्फ अपने को आत्मा समझो, मुझ बाप को याद करो तो मैं तुमको सुख दूँगा। परन्तु याद ही नहीं करते हैं। याद करें तो औरों को याद दिलाते रहें। बाप को याद करें तो पाप नष्ट हो जायें। उनकी याद बिगर तुम सुखधाम में जा नहीं सकते हो। 21 जन्मों का वर्सा निराकार बाप से मिल सकता है। बाकी तो सब अल्पकाल का सुख देने वाले हैं। कोई को रिद्धि-सिद्धि से बच्चा मिल गया वा आशीर्वाद से लॉटरी मिल गई तो बस विश्वास बैठ जाता है। कोई को 2-4 करोड़ फायदा हो जायेगा बस बहुत महिमा करेंगे। परन्तु वह तो है अल्पकाल के लिए। 21 जन्मों के लिए हेल्थ वेल्थ तो मिल नहीं सकती ना। परन्तु मनुष्य नहीं जानते हैं। दोष भी नहीं दे सकते हैं। अल्पकाल के सुख में ही खुश हो जाते हैं।

बाप तुम बच्चों को राजयोग सिखलाकर स्वर्ग की बादशाही देते हैं। कितना सहज है। कोई तो बिल्कुल समझा नहीं सकते। कोई समझते भी हैं परन्तु योग पूरा न होने के कारण कोई को तीर नहीं लगता है। देह-अभिमान में आने से कुछ न कुछ पाप होते रहते हैं। योग ही मुख्य है। तुम योगबल से विश्व के मालिक बनते हो। प्राचीन योग भगवान ने सिखाया था, न कि श्रीकृष्ण ने। याद की यात्रा बड़ी अच्छी है। तुम ड्रामा देखकर आओ तो बुद्धि में सारा सामने आ जायेगा। कोई को बताने में टाइम लगेगा। यह भी ऐसे है। बीज और झाड़। यह चक्र बड़ा क्लीयर है। शान्तिधाम, सुखधाम, दु:खधाम….सेकण्ड का काम है ना। परन्तु याद भी रहे ना। मुख्य बात है बाप का परिचय। बाप कहते हैं – मेरे को याद करने से तुम सब कुछ जान जायेंगे। अच्छा।

शिवबाबा तुम बच्चों को याद करते हैं, ब्रह्मा बाबा याद नहीं करते हैं। शिवबाबा जानते हैं हमारे सपूत बच्चे कौन-कौन हैं। सर्विसएबुल सपूत बच्चों को तो याद करते हैं। यह थोड़ेही किसको याद करेंगे। इनकी आत्मा को तो डायरेक्शन है मामेकम् याद करो। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) तकदीरवान बनने के लिए एक बाप से सच्चा-सच्चा लव रखना है। लव रखना माना कदम-कदम एक की ही श्रीमत पर चलते रहना।

2) रोज़ पुण्य का काम अवश्य करना है। सबसे बड़ा पुण्य है सबको बाप का परिचय देना। बाप को याद करना और सबको बाप की याद दिलाना।

वरदान:- स्थूल कार्य करते भी मन्सा द्वारा विश्व परिवर्तन की सेवा करने वाली जिम्मेवार आत्मा भव
कोई भी स्थूल कार्य करते सदा यह स्मृति रहे कि मैं विश्व की स्टेज पर विश्व कल्याण की सेवा अर्थ निमित्त हूँ। मुझे अपनी श्रेष्ठ मन्सा द्वारा विश्व परिवर्तन के कार्य की बहुत बड़ी जिम्मेवारी मिली हुई है। इस स्मृति से अलबेलापन समाप्त हो जायेगा और समय भी व्यर्थ जाने से बच जायेगा। एक-एक सेकण्ड अमूल्य समझते हुए विश्व कल्याण के वा जड़-चैतन्य को परिवर्तन करने के कार्य में सफल करते रहेंगे।
स्लोगन:- अभी योद्धा बनने के बजाए निरन्तर योगी बनो।
Font Resize