audio murli

TODAY MURLI 18 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

18/05/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Baba, the Death of all Deaths, has come to enable you to conquer death. Only with the mantra of “Manmanabhav” will you be able to conquer death.
Question: What special teaching does the spiritual Father give you spiritual pilgrims?
Answer: O spiritual pilgrims, renounce body consciousness and become soul conscious! Ravan made you body conscious for half the cycle. So, now become soul conscious! Only the Supreme Spirit, and no one else, can give you this spiritual knowledge.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. You children heard the praise of your Father. It is also remembered that God is the Highest on High. He is the Father of all the children. All are brothers. The Father of all is One and that One is Shiv Baba. The Father has explained to you: O children, on the path of devotion, you have two fathers: a worldly one and the One from beyond this world. A creation receives an inheritance from the creator. That is a limited inheritance, whereas this inheritance is unlimited. There is only the one unlimited Father from whom you receive the unlimited inheritance. He is incorporeal and His name is Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. They say: Salutations to the Supreme Soul, Shiva. He is the Highest on High. Your intellects go to the incorporeal Father. He resides in the supreme region from where you souls come. The Father also resides with you there. He is the Bestower of Salvation for All. Bharat is the birthplace of the Supreme Father, the Supreme Soul. People celebrate the birthday of Shiva here. That spiritual Father is called the Ocean of Knowledge, the Purifier, the Liberator and the Guide. The people of Bharat know that He alone is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. This is the land of sorrow and Bharat was the land of happiness. The Father sits here and explains to you children: O people of Bharat, when it was your original, eternal deity religion, you were the masters of the world. Those who belonged to the deity religion had an elevated religion and performed elevated actions. They have now become corrupt in their religion and their actions; they can no longer call themselves pure deities. The path of devotion continues till the end of the iron age. There is no knowledge then. Salvation is received through knowledge. Until the Father, the Bestower of Salvation for All, comes, no one can receive salvation. The Father says: I come at the confluence age of the cycle. At this time, the world is impure; there isn’t a single pure person. Although sannyasis become pure, they still have to take rebirth here, they have to take birth through poison; they cannot return home. When the cycle comes to an end, the Father comes and takes you back. This is called spiritual knowledge. The Supreme Spirit gives you spiritual knowledge. Only the Supreme Spirit is the Ocean of Knowledge and the Purifier. All the knowledge in the scriptures belongs to the path of devotion. The Father says: By having sacrificial fires, doing tapasya and going on pilgrimages etc., you have continued to come down. At first you were satopradhan. When there was purity in Bharat, there was also peace and prosperity. There was both health and wealth. It is a matter of 5000 years ago when Bharat was heaven. At that time, there were no other religions. There was just the one original, eternal deity religion and it was established by the Supreme Father, the Supreme Soul. Only He establishes heaven. Human beings cannot do this. It cannot be said that Krishna is the Creator; no. Only the one incorporeal Shiva is the Creator and everyone else is His creation. Only from the Creator does creation receive the inheritance. The Father explains: I am your unlimited Father. I give you the unlimited inheritance for 21 births. I establish the pure religions of the sun and moon dynasties. The Brahmin religion is the topknot. The spiritual Father is the highest. He makes all spirits equal to Himself. The Father is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Happiness and He also makes you that. Bharat was the land of happiness, whereas it is now the land of sorrow. No one knows how the Father comes. All of this history and geography from the beginning of the golden age to the end of the iron age is about Bharat. Lakshmi and Narayan were so healthy and wealthy; they never fell ill. You are now receiving teachings to conquer death. The One who is called the Great Death, the Death of all Deaths, is enabling you to conquer death. You have heard the praise: Salutations to Shiva. You wouldn’t say that the Supreme Soul is omnipresent or that He is in the cats and dogs. That is called defamation of religion. They defame the Father. This is now the confluence age of the cycle. It refers to this time when it is said: There are those who have no love for God in their intellects. Destruction is just ahead. In the Gita, it is written: What were the Yadavas, Kauravas and Pandavas doing? The Shrimad Bhagawad Gita is the jewel of all scriptures. It was from this that all the other scriptures emerged. You understand that the Gita is the scripture for the deity religion. The Father says: I come and change you from shudras into Brahmins and then make you into deities once again. You then become warriors, merchants and shudras. The Father explains how you take 84 births. Those who go first into the golden age will definitely take the maximum number of births. You people of Bharat take the maximum, 84 births. The minimum is one birth. The Father sits here and also explains this. No one, apart from the Father, is called the Ocean of Knowledge. When you speak of the Purifier, the Ocean of Knowledge, your intellect goes upwards. The Father liberates everyone and takes them back home. The Bestower of Salvation for All is the one Father. Achcha, then how does everyone become degraded? Who makes you degraded? The golden age is called salvation and the iron age is called degradation. The Father says: I come every cycle and grant you children salvation. You children know the history and geography of the whole world. The history and geography they teach in schools is incomplete. No one knows who used to rule in the golden and silver ages. There are the images of Lakshmi and Narayan showing that they used to rule. You can tell everyone for how long those kingdoms continued: the Christian dynasty has continued for 2000 years, the Buddhist dynasty has continued for this length of time and those of Islam have continued for this length of time. Before them, there was the moon dynasty which existed for 1250 years. There were only the sun and moon dynasties in the golden and silver ages; there was no other religion at that time. Only you become those of the sun and moon dynasties. You have now become the Brahmin dynasty. This whole play is based on Bharat. Bharat becomes hell and heaven. This cannot be said of those of other religions. They don’t exist in heaven. When someone dies, people say that he has become a resident of heaven, but they don’t understand that a resident of hell has to take rebirth in hell. A resident of heaven would take rebirth in heaven. You children understand that Lakshmi and Narayan were residents of heaven. How did they attain their kingdom? Anything of hundreds of thousands of years cannot be remembered. Those scriptures etc. do not exist in the golden age. All of those are the paraphernalia of the path of devotion. You have to descend the ladder. It takes you 5000 years to come down the ladder as you go through the stages of sato, rajo and tamo from satopradhan. In the golden age you were 16 celestial degrees full. Then, in the silver age, there were two degrees less; the alloy of silver was mixed into souls. You went into the copper age and there was therefore alloy of copper mixed into souls. At this time, souls are completely tamopradhan; alloy is mixed into souls. Only you take the full 84 births. The spiritual Father, Shiv Baba, comes and explains to you spiritual children. You now have to become soul conscious. When Ravan comes, everyone becomes body conscious. You now have to consider yourselves to be souls. We are the ones who have taken 84 births and have continued to play different parts. The cycle of 84 has now come to an end. Even bodies have now reached a state of total decay. Ravan’s kingdom begins in the copper age. Rama’s kingdom is in the golden age. You are soul conscious in the golden age. You then become body conscious in the copper and iron ages. You neither know about souls nor the Supreme Soul. The Father explains that each soul is a star. A wonderful star sparkles in the centre of the forehead; it cannot be seen except with divine vision; it is completely subtle. It is a soul that sheds a body and takes another. We souls have taken 84 births. The Supreme Father, the Supreme Soul, is also a point; He is called the Ocean of Knowledge, the Purifier and the knowledge-full One. The Supreme Father, the Supreme Soul, has the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. Because He is the Seed, He is called the Truth, the Living Being and the Embodiment of Bliss. The Father definitely has to speak the knowledge that He has. This is spiritual knowledge. The Father of all spirits comes and teaches you spirits. You have to become soul conscious. Shiv Baba is teaching us. He alone is the knowledge-full One. It is Baba who comes and creates the creation of heaven. He makes you worthy of heaven. No human being knows these secrets of the world cycle. Because of not knowing the Father, this has become the condition of Bharat. When there was purity in Bharat, there was also peace and prosperity. It is now hell. Therefore, how could anyone go to heaven? Their intellects have become completely stone like. The Father says: I would bring a gift for the children, would I not? I make you into the masters of heaven. Those who claimed their inheritance in the previous cycle will do so now. They will change from humans into deities. In fact, all are the children of Prajapita Brahma. Shiv Baba is now creating creation through Brahma. They continue to become Brahma Kumars and Kumaris. You have to make effort in order to claim your inheritance from Shiv Baba. You have to change from tamopradhan to satopradhan. The Father says: Children, remember Me and all your sins will be absolved. No one but the Father can give you this spiritual knowledge. Only the spiritual Father gives you spirits knowledge. You go on a spiritual pilgrimage. You renounce body consciousness and become soul conscious. Souls are imperishable and the parts are recorded in souls. You now understand how you souls play your parts for 84 births. We belonged to the sun dynasty, then we became those of the moon dynasty and we now have to become those of the sun dynasty once again. The Father is now giving you teachings to become satopradhan: Constantly remember Me alone! God speaks: The God of the Gita is Shiv Baba, not Shri Krishna. The Krishna soul too is now studying this. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Stay on the spiritual pilgrimage and also inspire others to do so. In order to make yourself satopradhan, remember the one Father. Make full effort to become soul conscious.
  2. In order to conquer death, pay attention to the Father’s teachings. Consider yourself to be a spirit and give knowledge to spirits.
Blessing: May you be a master seed and remain stable in the stage beyond sound and experience all virtues.
Just as a whole tree is merged in a seed, in the same way, all the special virtues of the confluence age are experienced in the stage beyond sound. To be a master seed means not just to be peaceful but, together with peace, also to have knowledge and experience all the main virtues: supersensuous joy, love, bliss and power, etc. Not only do you yourself experience these, but all other souls also experience all virtues from your face. All virtues are merged in the one virtue.
Slogan: Imbibe goodness, but do not be impressed by that goodness.

*** Om Shanti ***

 

Invaluable elevated versions of Mateshwariji

 

 

Song: What can thunderstorms do to those whose companion is God?

 

 

What can thunderstorms do to those whose companion is God? This song proves that a soul and the Supreme Soul are two things. God is not omnipresent because why is there so much sorrow in the world for those whose companion is God and are in His presence? Why are people so poor and dependent? God is the Being of Happiness and to say that God is omnipresent is to insult Him. When God is present, should the world be full of happiness or full of sorrow? Then, what is the need to call out to God? At this time, Maya is omnipresent, not that God is not present. God only comes once, at the confluence age, and it is then that He can be said to be present everywhere. His remembrance is definitely present in everyone’s heart. The power that makes a body function with different sanskars, a soul, not God, is present in each one. Now, you have to think about why it is you have received God’s company? In order to go through a thunderstorm of Maya, and there are definitely thunderstorms of Maya, and to go through it, we souls ask for God’s company. If He were present, then neither would there be problems from Maya, nor would we have to remember Him to take His company. So, both, we souls and God, have parts in this play. When God comes, we have to take His full company and completely belong to Him, for only then will we become free from Maya’s thunderstorms. Though He is the Bestower of Happiness for All, those who take His support in a practical way are the ones who receive His company. So, those children have extra attainment. He has become present in the world, but it is so amazing! Because the world does not know Him, they are not able to take His company. If they were to take His full company, He is well known for giving His help. It is said: When you take one step forward, He will come forward ten steps. He gives the full inheritance in which there is nothing lacking. Achcha.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 18 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

18-05-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – कालों का काल बाबा आया है, तुम्हें काल पर जीत प्राप्त कराने, मनमनाभव के मन्त्र से ही तुम काल पर जीत पायेंगे”
प्रश्नः- रूहानी बाप तुम रूहानी यात्रियों को कौन सी एक विशेष शिक्षा देते हैं?
उत्तर:- हे रूहानी यात्री – तुम देह-अभिमान छोड़ देही-अभिमानी बनो। रावण ने आधाकल्प से तुम्हें देह-अभिमानी बनाया, अब आत्म-अभिमानी बनो। यह रूहानी ज्ञान सुप्रीम रूह ही तुम्हें देता और कोई दे नहीं सकता।
गीत:- ओम् नमो शिवाय….

ओम् शान्ति। बच्चों ने अपने बाप की महिमा सुनी। गाया भी जाता है ऊंच ते ऊंच भगवान। वह है सब बच्चों का बाप। बाकी जो भी हैं, आपस में सब ब्रदर्स हैं और सबका बाप भी एक है। वह है शिवबाबा। बाप ने समझाया है हे बच्चों, भक्ति मार्ग में तुमको दो बाप हैं – लौकिक बाप और पारलौकिक बाप। रचयिता से रचना को वर्सा मिलता है, वह है हद का वर्सा, यह है बेहद का वर्सा। बेहद का बाप तो एक ही है जिससे बेहद का वर्सा मिलता है। वह है निराकार, उसका नाम है परमपिता परमात्मा शिव। कहते भी हैं शिव परमात्माए नम:, वह है ऊंच ते ऊंच। तुम्हारी बुद्धि चली जाती है, निराकार बाप की तरफ। वह रहते हैं परमधाम में, जहाँ से तुम आत्मायें आती हो। बाप भी वहाँ ही रहते हैं। वह है ही सर्व का सद्गति करने वाला। उसमें भी भारत परमपिता परमात्मा का बर्थ प्लेस है, शिव जयन्ती भी यहाँ मनाते हैं। उस रूहानी बाप को ही ज्ञान का सागर, पतित-पावन, लिबरेटर, गाइड कहा जाता है। वही दु:ख-हर्ता, सुख-कर्ता है – यह भारतवासी जानते हैं। यह दु:खधाम है, भारत ही सुखधाम था। बाप बच्चों को बैठ समझाते हैं – हे भारतवासी, तुम विश्व के मालिक थे जबकि तुम्हारा आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। देवी-देवता धर्म-श्रेष्ठ, कर्म-श्रेष्ठ थे, अब यह धर्म-भ्रष्ट, कर्म-भ्रष्ट बन गये हैं। अपने को पावन देवता कहला नहीं सकते। कलियुग अन्त तक भक्ति मार्ग चलता है, इसमें ज्ञान होता नहीं। ज्ञान से होती है सद्गति। सर्व का सद्गति दाता बाप जब तक न आये तब तक सद्गति हो न सके। बाप कहते हैं – मैं कल्प के संगमयुग पर आता हूँ। इस समय है ही पतित दुनिया। पावन एक भी होता नहीं। भल संन्यासी पवित्र बनते हैं परन्तु फिर उनको पुनर्जन्म तो यहाँ ही लेना है। विष से जन्म लेना पड़े। वापिस जाने का है नहीं। जब चक्र पूरा होता है तब ही बाप आकर ले जाते हैं। इनको कहा ही जाता है रूहानी ज्ञान। सुप्रीम रूह, रूहानी ज्ञान देते हैं। सुप्रीम रूह ही ज्ञान का सागर, पतित-पावन है। बाकी शास्त्रों का ज्ञान तो है भक्ति मार्ग। बाप कहते हैं यज्ञ, तप, तीर्थ आदि करते और ही नीचे गिरते आये हो। तुम पहले सतोप्रधान थे। भारत में प्योरिटी थी तो पीस, प्रासपर्टी भी थी। हेल्थ, वेल्थ दोनों थे। आज से 5 हजार वर्ष पहले की बात है, यह भारत स्वर्ग था। उस समय और कोई धर्म नहीं था। सिर्फ एक ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म था, जो परमपिता परमात्मा ने स्थापन किया। स्वर्ग की स्थापना तो वही करेंगे। मनुष्य तो कर न सकें। ऐसे तो नहीं कहेंगे – कृष्ण रचयिता है। नहीं, रचयिता एक ही निराकार शिव है। बाकी है उनकी रचना। रचयिता से ही रचना को वर्सा मिलता है।

बाप समझाते हैं – मैं तुम्हारा बेहद का बाप हूँ, तुमको बेहद का वर्सा देता हूँ, 21 जन्मों के लिए। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी पवित्र धर्म स्थापन करता हूँ। ब्राह्मण धर्म है चोटी। सबसे ऊंच है रूहानी बाप, रूहों को आप समान बनाते हैं। बाप ज्ञान का सागर, सुख का सागर है तो तुमको भी बनाते हैं। भारत ही सुखधाम था, अभी तो दु:खधाम है। बाप कैसे आते हैं, यह किसको भी पता नहीं है। सतयुग आदि से कलियुग अन्त तक यह सारी हिस्ट्री-जॉग्राफी भारत की है। यह लक्ष्मी-नारायण कितने हेल्दी, वेल्दी थे। कभी बीमार नहीं पड़ते थे। अभी काल पर विजय पाने शिक्षा ले रहे हैं। जिसको कालों का काल, महाकाल कहा जाता है, वह तुमको काल पर विजय पहनाते हैं। नाम भी सुना शिवाए नम:। तुम ऐसे तो नहीं कहेंगे परमात्मा सर्वव्यापी है, कुत्ते बिल्ली में है, इसको कहा जाता है धर्म की ग्लानी। बाप की ग्लानी करते हैं। अभी यह है कल्प का संगम समय। इस समय ही विनाश काले विपरीत बुद्धि कहा जाता है। अब विनाश तो सामने खड़ा है। गीता में भी लिखा है – यादव, कौरव, पाण्डव क्या करत भये। सर्व शास्त्र मई शिरोमणी श्रीमत भगवत गीता है, उनसे ही फिर और शास्त्र निकले हैं। तुम जानते हो गीता है डीटी धर्म का शास्त्र। बाप कहते हैं मैं आता हूँ तुमको शूद्र से ब्राह्मण बनाता हूँ फिर सो देवी-देवता बनाता हूँ। फिर तुम क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनते हो। बाप समझाते हैं तुम 84 जन्म कैसे लेते हो। सबसे जास्ती जन्म जरूर वह लेते हैं जो पहले-पहले सतयुग में आते हैं। मैक्सीमम 84 जन्म लिये हैं तुम भारतवासियों ने, मिनीमम एक जन्म। यह भी बाप ही बैठ समझाते हैं। बाप बिगर किसको ज्ञान का सागर नहीं कहा जाता। पतित-पावन, ज्ञान का सागर कहने से बुद्धि ऊपर चली जाती है। बाप ही सबको लिबरेट कर वापिस ले जाते हैं, सर्व का सद्गति दाता एक ही बाप है। अच्छा फिर सर्व की दुर्गति कैसे होती है? कौन करता है? सद्गति सतयुग को, दुर्गति कलियुग को कहा जाता है। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प तुम बच्चों को आकर सद्गति देता हूँ। तुम बच्चे सारे वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी जानते हो। स्कूलों में तो आधी हिस्ट्री-जॉग्राफी सिखाते हैं। सतयुग, त्रेता में कौन राज्य करते थे, किसको पता नहीं। चित्र तो बरोबर हैं – यह लक्ष्मी-नारायण राज्य करते थे। कितना समय वह राजधानी चली, तुम बता सकते हो। क्रिश्चियन डिनायस्टी 2 हजार वर्ष चली। बौद्ध डिनायस्टी इतना समय चली। इस्लामी…..उनके आगे फिर चन्द्रवंशी थे जो 1250 वर्ष चले। सतयुग-त्रेता में सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी ही थे और कोई धर्म नहीं था। तुम ही सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी बनते हो। अब फिर से बने हो ब्राह्मण वंशी। यह सारा नाटक भारत पर ही बना है। भारत ही हेल और हेविन बनता है और धर्म वालों के लिए नहीं कहेंगे। वह तो हेविन में होते ही नहीं। कोई मरता है तो कहते हैं स्वर्गवासी हुआ, परन्तु समझते नहीं। नर्कवासियों को तो नर्क में ही जन्म लेना पड़े। स्वर्गवासी स्वर्ग में ही पुनर्जन्म लेंगे। तुम बच्चे समझते हो यह लक्ष्मी-नारायण स्वर्गवासी थे। उन्होंने यह राजधानी कैसे पाई। लाखों वर्ष की बात तो याद रह न सके। सतयुग में यह शास्त्र आदि होते नहीं हैं। यह सारी भक्ति की सामग्री है। सीढ़ी नीचे उतरनी ही है। सतोप्रधान से सतो-रजो-तमो में, यह सीढ़ी उतरने में 5 हजार वर्ष लगते हैं। सतयुग में 16 कला सम्पूर्ण फिर त्रेता में 2 कला कम, आत्मा में चाँदी की खाद पड़ी। कॉपर एज में आये तो कॉपर की अलाए पड़ी, इस समय बिल्कुल ही तमोप्रधान हैं। आत्मा में ही खाद पड़ती है। तुम ही पूरे 84 जन्म लेते हो। यह रूहानी बाप शिवबाबा आकर रूहानी बच्चों को समझाते हैं। तुमको अब आत्म-अभिमानी बनना है। रावण की प्रवेशता होने से सब देह-अभिमानी बन जाते हैं। अब अपने को आत्मा समझना है। हम ही 84 जन्म ले भिन्न-भिन्न पार्ट बजाते आये हैं। अब 84 का चक्र पूरा हुआ। अब तो शरीर भी जड़जड़ीभूत हो गया है। द्वापर से रावण राज्य होता है। सतयुग में है रामराज्य। सतयुग में तुम आत्म-अभिमानी थे। द्वापर, कलियुग में तुम देह-अभिमानी बन जाते हो। न आत्मा को, न परमात्मा को जानते हो।

बाप समझाते हैं – आत्मा एक स्टार है। भ्रकुटी के बीच में चमकता है अजब सितारा… उनको सिवाए दिव्य दृष्टि के देखा नहीं जा सकता है। वह बिल्कुल ही सूक्ष्म है। आत्मा ही एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। हम आत्मा ने 84 जन्म लिए हैं। परमपिता परमात्मा भी बिन्दी है, उनको ही ज्ञान का सागर, पतित-पावन नॉलेजफुल कहा जाता है। परमपिता परम आत्मा में सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान है। बीजरूप होने के कारण उनको सत्-चित-आनन्द स्वरूप कहा जाता है। बाप में जो ज्ञान है, वह जरूर सुनाना पड़े। यह है स्प्रीचुअल नॉलेज। सब रूहों का बाप आकर रूहों को पढ़ाते हैं। तुमको आत्म-अभिमानी बनना है। शिवबाबा हमको पढ़ाते हैं, वही नॉलेजफुल है। बाबा ही आकर स्वर्ग की रचना रचते हैं। तुमको स्वर्ग का लायक बनाते हैं। यह सृष्टि चक्र का राज़ कोई मनुष्य नहीं जानते। बाप को ही न जानने कारण भारत का यह हाल हुआ है। भारत में प्योरिटी थी तो पीस प्रासपर्टी थी। अभी तो है ही नर्क फिर कोई स्वर्ग में जा कैसे सकते! बिल्कुल ही पत्थरबुद्धि हो गये हैं।

बाप कहते हैं – मैं बच्चों के लिए कोई तो सौगात ले आऊंगा। तुमको स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ। जिन्होंने कल्प पहले वर्सा लिया है, वही अब लेंगे। मनुष्य से देवता बनेंगे। वास्तव में प्रजापिता ब्रह्मा के तो सब बच्चे हैं। अब ब्रह्मा द्वारा शिवबाबा रचना रच रहे हैं। ब्रह्माकुमार-कुमारी बनते जाते हैं। शिवबाबा से वर्सा लेने के लिए पुरूषार्थ करना है, तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। बाप कहते हैं – बच्चों, मुझे याद करो तो तुम्हारे सब विकर्म विनाश होंगे। यह स्प्रीचुअल नॉलेज सिवाए बाप के और कोई दे नहीं सकता। रूहानी बाप ही रूहों को नॉलेज देते हैं। तुम रूहानी यात्रा करते हो। देह-अभिमान को छोड़ देही-अभिमानी बनते हो। आत्मा अविनाशी है। आत्मा में ही पार्ट भरा हुआ है। आत्मा कैसे 84 जन्मों का पार्ट बजाती है, अब मालूम पड़ा है। हम सूर्यवंशी थे फिर चन्द्रवंशी बने फिर हमको सूर्यवंशी बनना है। अभी बाप सतोप्रधान बनने की शिक्षा देते हैं, मामेकम् याद करो। भगवानुवाच – गीता का भगवान शिवबाबा है, न कि श्रीकृष्ण। कृष्ण की आत्मा भी अब सीख रही है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) रूहानी यात्रा करनी और करानी है। स्वयं को सतोप्रधान बनाने के लिए एक बाप को याद करना है। आत्म-अभिमानी बनने का पूरा-पूरा पुरूषार्थ करना है।

2) काल पर विजय पाने के लिए बाप की शिक्षा को ध्यान पर रखना है। अपने को रूह समझ रूहों को ज्ञान देना है।

वरदान:- आवाज से परे की स्थिति में स्थित हो सर्व गुणों का अनुभव करने वाले मा. बीजरूप भव
जैसे बीज में सारा वृक्ष समाया हुआ होता है वैसे ही आवाज से परे की स्थिति में संगमयुग के सर्व विशेष गुण अनुभव में आते हैं। मास्टर बीजरूप बनना अर्थात् सिर्फ शान्ति नहीं लेकिन शान्ति के साथ ज्ञान, अतीन्द्रिय सुख, प्रेम, आनंद, शक्ति आदि-आदि सर्व गुख्य गुणों का अनुभव करना। यह अनुभव सिर्फ स्वयं को नहीं होता लेकिन अन्य आत्मायें भी उनके चेहरे से सर्वगुणों का अनुभव करती हैं। एक गुण में सर्वगुण समाये हुए रहते हैं।
स्लोगन:- अच्छाई धारण करो लेकिन अच्छाई में प्रभावित नहीं हो जाओ।

 

मातेश्वरी जी के अनमोल महावाक्य

“जिसका साथी भगवान है उनको क्या रोकेगा आंधी और तूफान”

जिसका साथी है भगवान उसको क्या रोकगा आंधी और तूफान… देखो यह गीत सिद्ध करता है कि आत्मा और परमात्मा दो चीज़ है न ईश्वर सर्वव्यापी है क्योंकि जिसका साथी है ईश्वर वो हाज़िर होते हुए फिर भी सृष्टि में इतना दु:ख क्यों? मनुष्य इतने कंगाल मोहताज क्यों? परमात्मा तो सुख स्वरूप है तो सर्वव्यापी परमात्मा कहना गोया परमात्मा की इनसल्ट करना है। भगवान के हाज़िर होते दुनिया सुख स्वरूप होनी चाहिए वा दु:ख रूप? फिर परमात्मा को पुकारने की दरकार क्यों? तो इस समय माया सर्वव्यापी है न कि परमात्मा हाज़िर है। परमात्मा सिर्फ एक बार संगम पर आता है तब उनको हाज़िर नाज़िर कह सकते हैं, बाकी उनकी याद सबके दिलों में जरुर व्यापक है। शरीर को चलाने वाली शक्ति तो हरेक में भिन्न-भिन्न संस्कार वाली आत्मा है न कि परमात्मा है। अब विचार करना है कि परमात्मा का साथ क्यों लिया है? इस माया के आंधी और तूफान से पार होने के लिये, तो जरूर कोई माया का तूफान है जिससे पार होने के लिये उस परमात्मा का साथ हम आत्मायें मांगती हैं, अगर वो हाज़िर होता तो न माया की उलझन होती, न उनका साथ लेने के लिये याद करना पड़ता। तो हम आत्माओं और परमात्मा दोनों का इस खेल में पार्ट है। तो जब परमात्मा आता है तो उनका पूरा साथ ले उनका हो जाना है तब ही माया के तूफान से छूट पायेंगे। भल वो सबका सुखदाता है परन्तु जो प्रैक्टिकल में उनका सहारा लेते हैं उन्हों को ही साथ मिलता है। तो उन बच्चों को एकस्ट्रा प्राप्ति होती है, भल वो दुनिया के अन्दर आए उपस्थित हुआ है परन्तु ओहो! आश्चर्यवत्! दुनिया इनको न जानने के कारण इनका साथ नहीं लेती है, अगर इनका पूरा साथ पकड़ ले तो मदद देने में मशहूर है। कहते हैं एक कदम तुम आगे बढ़ो तो दस कदम आगे आयेंगे, तो वो सम्पूर्ण वर्सा देते हैं जिसमें कोई अपूर्णता नहीं होती। अच्छा।

TODAY MURLI 17 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

17/05/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Baba has come to make you children praise worthy, similar to Himself. You are now imbibing the Father’s praise.
Question: With which expression do people on the path of devotion call out and remember God, the Beloved, with a lot of love, even though they don’t know Him fully?
Answer: They call out and remember Him with a lot of love, saying: O Beloved, when You come, I will only remember You and break my intellect’s yoga away from everyone else and connect it to You alone! The Father says: Children, I have now come. Therefore, become soul conscious! Your first duty is to remember the Father with a lot of love.

Om shanti. The Supreme Father, the Supreme Soul, (who has taken a body on loan), now sits here and explains to you sweetest embodied souls: I enter an ordinary old body. I come and teach many children. He only explains to the Brahmin children who are the mouth-born creation of Brahma. He definitely explains to them through a mouth. Who else would He explain to? He says: Children, you were calling out to Me on the path of devotion: O Purifier! Everyone, in Bharat and the world in general, calls out to Me. When Bharat was pure, all the rest were in the land of peace. You children should keep in your awareness what the golden and silver ages are and what the copper and iron ages are. Your intellects have the full knowledge of who used to rule there. Just as the Father has the knowledge of the beginning, the middle and the end of creation, so your intellects also have it. You children should also have the knowledge that the Father gives you. The Father comes and makes you children equal to Himself. There is as much praise of the children as there is of the Father. The Father made the children more praiseworthy. Always consider it to be Shiv Baba teaching through this one. It is a soul that speaks to other souls. However, because people are body conscious, they think that so-and-so is teaching. In fact, it is souls who do everything. It is souls who plays their parts. You have to become soul conscious. Repeatedly consider yourself to be a soul. Until you consider yourself to be a soul, you won’t be able to remember the Father; you will forget Him. When you are asked whose children you are, you reply that you are Shiv Baba’s children. There is the question in the visitor’s book: Who is your father? They instantly tell you the names of their physical fathers. OK, so what is the name of the Father of souls? Some write Krishna’s name and others write Hanuman’s name. Or they write that they don’t know. Oh! You know your physical father, but you don’t know the parlokik Father whom you constantly remember when in sorrow! You even say: O God, have mercy! O God, give us a son! You ask God, do you not? The Father now tells you something very easy. Because you remain body conscious a great deal, there isn’t the intoxication of the Father’s inheritance. You should have a lot of intoxication. People perform devotion in order to meet God. To have sacrificial fires, do tapasya, donate and perform charity are all devotion. Everyone remembers the one God. The Father says: I am the Husband of all husbands and the Father of all fathers. Everyone definitely remembers God, the Father. It is souls who remember Him. Although they speak of a wonderful star shining in the centre of the forehead, they say this without any understanding. They don’t understand the significance of it at all. You don’t even know souls, so how could you know the Father of souls? Those on the path of devotion have visions. On the path of devotion, they build huge Shiva lingams in order to worship them because if they were to show the form of a point, no one would be able to understand it. These are subtle matters. People say that God is the infinite and eternal form of light; they say that He has a very big form. Those who belong to the Brahm Samajis sect say that God is light. No one in the world knows that the Supreme Father, the Supreme Soul, is a point and this is why they are confused. Some children even ask: Baba, whom should we remember? We had heard that He is a big lingam form and that He is remembered in that form. Now, how can we remember a point? Oh! But you souls are points and the Father too is a point. You call out to that Soul and so He would definitely come and sit here. All the visions that people have on the path of devotion are just devotion. They don’t worship just one, but they have made many into God. How can devotees who continue to perform worship be called God? If God is omnipresent, whom are they worshipping? They perform many different types of devotion. The Father explains: Children, don’t think that you will live for many more years. The time is now coming very close. Have the faith that Baba has to carry out establishment through Brahma. The Father Himself says: I tell you the secrets of the beginning, the middle and the end of the world through this one. It is remembered that establishment takes place through Brahma. They don’t know that the new world is called the land of Vishnu. This means that the dual-form of Vishnu rules the kingdom there. No one knows who Vishnu is. You know that Brahma and Saraswati become the dual-form of Vishnu and sustain that kingdom as Lakshmi and Narayan; establishment through Brahma and then they sustain the land of Vishnu, that is, heaven. It should enter your intellects that the Father is the Ocean of Knowledge, that He is the Seed of the human world tree. He knows the beginning, the middle and the end of this drama. He alone is the Purifier. Whatever is the Father’s business is also your business. You also purify the impure. In the world, a father may have three or four children and one of them may have risen very high whereas another may have a very low position. Here, the Father is teaching you the one business of how to purify the impure. Give everyone the aim that Shiv Baba says: Remember Me! They have wrongly written in the Gita that God Krishna speaks. You have to explain that God is incorporeal and that He is beyond rebirth. This is the one mistake they have made. You children are now becoming the masters of the land of Krishna. Some will become part of the royal family and others will become subjects. It is called the land of Krishna because everyone has a lot of love for Krishna. Children are very much loved by everyone and children also have love for their parents. All their love is then distributed among many. The Father now explains: Don’t consider yourselves to be bodies. Constantly have the faith that you are a soul. Become soul conscious! The Father is incorporeal and He has to take a body here in order to explain; He cannot explain anything without a body. You have your own bodies and Baba takes a body on loanthere is no question of inspiration in this. The Father Himself says: I adopt this body and teach you children because you souls, who have become tamopradhan, now have to become satopradhan. They sing, “O Purifier, come!”, but they don’t understand the meaning of it. You now understand how the Father comes and purifies you. You also know that there will just be your small tree in the golden age. You will go to heaven, but no name or trace of any of the other lands will remain. Only the land of Bharat will be heaven. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, comes and establishes heaven. It is now hell. It was only in the ancient land of Bharat that the deities used to rule. They no longer exist, but their temples and images exist here. Therefore, this is a matter of Bharat. It doesn’t enter the intellects of any of the people of Bharat that Bharat was heaven, where Lakshmi and Narayan were the masters and that there was no other land then. There are now innumerable religions. The people of Bharat have become corrupt in their religion and actions. They call Krishna the ugly and beautiful one, but they don’t understand the meaning of that. He truly was ugly. It is said that Krishna was bitten by a snake and so he became ugly. He was a prince of the golden age, so how did he become ugly? You now understand these things. Even the parents of Krishna are now studying. Shri Krishna is remembered as being higher than his parents. The names of his parents are not remembered. Generally, parents who give birth to such a child would also be just as lovely, but no; all the praise is of Radhe and Krishna. There is no praise of their parents. You have knowledge in your intellects. Knowledge is day and devotion is night. People continue to stumble in the darkness of the night. It is now explained to you children that you are to live at home and continue to do this service. Explain to anyone: You are lovers of the one Beloved for half the cycle. Everyone remembers Him on the path of devotion, and so they are all lovers, are they not? However, they don’t know the Beloved fully. They remember Him with a lot of love: O Beloved, when You come, I will only remember You and will break my intellect’s yoga away from everyone else and connect it to You alone. You used to sing this, but you didn’t know what inheritance you would receive from the Father. The Father now explains: Become soul conscious! It is the first duty of you children to remember the Father. A son always remembers his father and a daughter remembers her mother. They are equals. A son understands that he will be his father’s heir. A daughter does not think in that way. She would be aware that she has to leave her parents’ home and go to her in-laws’ home. You now have the incorporeal and corporeal parents’ home. People call out: O Supreme Father, Supreme Soul, have mercy! Remove our sorrow and grant us happiness! Liberate us! Become our Guide! However, even great scholars don’t know the meaning of this. The Father is the Liberator of all. He is the Benefactor of everyone. If those people cannot benefit themselves, how could they benefit others? Here, the Father says: I come in an incognito way. You have heard the story of God, the Friend, have you not? This is the bridge between the iron and the golden ages and you have to go across to the other side. God is the Father. He is also the Friend. He also plays the parts of the Mother, the Father and the Teacher too. Because you have visions here, people say that there is magic here. Even those who do intense devotion have visions. There are many staunch devotees. They say: Grant me a vision! Otherwise I will cut my throat! Only then do they have visions. That is called intense devotion. There is no question of intense devotion here. Many have visions while sitting at home. I hold the key to divine visions. I also granted a divine vision to Arjuna, did I not? “Look at this destruction! Now, look at your own kingdom! Now constantly remember Me alone and you will become this!” You now understand who Vishnu is. Those who build temples themselves do not know this. Sustenance takes place through Vishnu. Two arms of the four arms symbolise the male and two, the female. The dual-form of Vishnu represents Lakshmi and Narayan. However, no one understands anything. No one has any knowledge of either Shiv Baba or of Vishnu. At first, there was the attraction of Baba and many used to come. In the beginning, the whole courtyard would be full. Judges and magistrates also used to come. Then, there was fighting over purity and they began to ask how the world would continue if children weren’t born, that it is the law for the world population to grow. They forgot the words in the Gita where God says. “Lust is the greatest enemy and you have to conquer it.” They started saying: Give knowledge to both husband and wife together; not just to one. However, it can only be given to both when both of them come together. Even when knowledge is given to both together, one would take it and the other one wouldn’t. What can one do if it is not in their fortune? One becomes a swan and the other one remains a stork. Here, you Brahmins are even more elevated than the deities. You know that you are the children of God. You are the children of Shiv Baba. You will not have this knowledge in heaven. Even when you are in the incorporeal world, the land of liberation, you will not have this knowledge. This knowledge finishes with the body. You now have the knowledge that one Baba is teaching you. This play is now coming to an end and all the actors are present here. Baba too has come here. All the souls that still remain up there are continuing to come down. When they have all come down, destruction will take place and the Father will take everyone back with Him. Everyone has to return home. This impure world has to be destroyed. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Do the same business as the Father, which is of purifying the impure. Give everyone the aim of remembering the Father and of becoming pure.
  2. Maintain the intoxication that this Brahmin life is even more elevated than that of the deities. Break your intellect’s yoga away from everyone else and remember the one Beloved.
Blessing: May you transform attraction into being free from attraction and become an embodiment of power.
In order to become an embodiment of power, transform attraction into being free from attraction. If there is any attraction to your body, your relations or any physical possessions, Maya can also come and you will then not be able to become an embodiment of power. This is why you first have to become free from attraction and you will then be able to face the obstacles of Maya. Instead of screaming out or being afraid when obstacles come, adopt the form of power and you will become a destroyer of obstacles.
Slogan: Let your mercy be altruistic and free from attachment, not filled with selfishness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

17-05-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाबा आये हैं, आप बच्चों को अपने समान महिमा लायक बनाने, बाप की जो महिमा है वह अभी तुम धारण करते हो”
प्रश्नः- भक्तिमार्ग में परमात्मा माशुक को पूरा न जानते भी कौन से शब्द बहुत प्यार से बोलते और याद करते हैं?
उत्तर:- बहुत प्यार से कहते और याद करते हैं हे माशूक तुम जब आयेंगे तो हम सिर्फ आपको ही याद करेंगे और सबसे बुद्धियोग तोड़ आपके साथ जोड़ेंगे। अब बाप कहते हैं बच्चे, मैं आया हुआ हूँ तो देही-अभिमानी बनो। तुम्हारा पहला फ़र्ज है – प्यार से बाप को याद करना।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे जीव की आत्माओं को, परमपिता परमात्मा (जिसने अब शरीर का लोन लिया है) बैठ समझाते हैं कि मैं साधारण बूढ़े तन में आता हूँ। आकर बहुत बच्चों को पढ़ाता हूँ। ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण बच्चों को ही समझायेंगे। जरूर मुख द्वारा ही समझायेंगे और किसको समझायेंगे। कहते हैं – बच्चे, तुम मुझे भक्ति मार्ग में बुलाते आये हो – हे पतित-पावन, भारत खास और दुनिया में आम सब बुलाते हैं। भारत ही पावन था, बाकी सब शान्तिधाम में थे। बच्चों को यह स्मृति में रखना चाहिए कि सतयुग-त्रेता किसको कहा जाता है, द्वापर-कलियुग किसको कहा जाता है। उनमें कौन-कौन राज्य करते थे, तुम्हारी बुद्धि में पूरी नॉलेज है। जैसे बाप को रचना के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान है, वैसे तुम्हारी बुद्धि में भी है। बाप जो ज्ञान देते हैं वह बच्चों में भी जरूर होना चाहिए। बाप आकर बच्चों को आप समान बनाते हैं। जितनी बाप की महिमा है उतनी बच्चों की है। बाप ने बच्चों को जास्ती महिमावान बनाया है। हमेशा समझो कि शिवबाबा इन द्वारा सिखाते हैं। आत्मा ही एक-दो से बात करती है। परन्तु मनुष्य देह-अभिमानी होने के कारण समझते हैं, फलाना पढ़ाता है। वास्तव में करती सब कुछ आत्मा है। आत्मा ही पार्ट बजाती है। देही-अभिमानी बनना है। घड़ी-घड़ी अपने को आत्मा समझना है। जब तक अपने को आत्मा नहीं समझेंगे तो बाप को भी याद नहीं कर सकेंगे। भूल जाते हैं। तुमसे पूछा जाता है – तुम किसके बच्चे हो? तो कहते हो हम शिवबाबा के बच्चे हैं। विजीटर बुक में भी लिखा हुआ है – तुम्हारा बाप कौन है? तो झट देह के बाप का नाम बतायेंगे। अच्छा – अब देही के बाप का नाम बताओ। तो कोई कृष्ण का, कोई हनूमान का नाम लिखेंगे या तो लिखेंगे – हम नहीं जानते। अरे, तुम लौकिक बाप को जानते हो और पारलौकिक बाप जिनको तुम हमेशा दु:ख में याद करते हो, उनको नहीं जानते हो! कहते भी हैं, हे भगवान रहम करो। हे भगवान एक बच्चा दो। माँगते हो ना। अब बाप बिल्कुल सहज बात बताते हैं। तुम देह-अभिमान में बहुत रहते हो इसलिए बाप के वर्से का नशा नहीं चढ़ता है। तुमको तो बहुत नशा चढ़ना चाहिए। भक्ति करते ही हैं – भगवान से मिलने के लिए। यज्ञ, तप, दान-पुण्य आदि करना यह सब भक्ति है। सब एक भगवान को याद करते हैं। बाप कहते हैं – मैं तुम्हारा पतियों का पति हूँ, बापों का बाप हूँ। सब बाप भगवान को याद जरूर करते हैं। आत्मायें ही याद करती हैं। भल कहते भी हैं, भ्रकुटी के बीच में चमकता है अजब सितारा… परन्तु यह बिगर समझ के ऐसे ही कह देते हैं। रहस्य का कुछ भी पता नहीं। तुम आत्मा को ही नहीं जानते हो तो आत्मा के बाप को कैसे जान सकेंगे। दीदार तो होता है भक्ति मार्ग वाला। भक्ति मार्ग में पूजा के लिए बड़ा-बड़ा लिंग रख देते हैं क्योंकि अगर बिन्दी का रूप दिखायें तो कोई समझ न सके। यह है महीन बात। परमात्मा जिसको अखण्ड ज्योति स्वरूप कहते हैं, मनुष्य कहते हैं उनका कोई बहुत बड़ा रूप है। ब्रह्म समाजी मठ वाले ज्योति को परमात्मा कहते हैं। दुनिया में यह किसको पता नहीं है कि परमपिता परमात्मा बिन्दी है, तो मूँझ पड़े हैं। बच्चे भी कहते हैं, बाबा किसको याद करें। हमने तो सुना था वह बड़ा लिंग है, उनको याद किया जाता है। अब बिन्दी को कैसे याद करें? अरे तुम आत्मा भी बिन्दी हो, बाप भी बिन्दी है। आत्मा को बुलाते हैं, वह जरूर यहाँ ही आकर बैठेंगे। भक्ति मार्ग में जो साक्षात्कार आदि होता है, यह है सब भक्ति। भक्ति भी एक की नहीं करते, बहुतों को भगवान बना दिया है। भगत जो भक्ति करते रहते हैं, उनको भगवान कैसे कहेंगे। अगर परमात्मा सर्वव्यापी कहते हैं तो फिर भक्ति किसकी करते हैं। सो भी भिन्न प्रकार की भक्ति करते हैं।

बाप समझाते हैं – बच्चे, ऐसे मत समझो कि हमको अनेक वर्ष जीना है। अभी समय बहुत नजदीक होता जाता है। निश्चय रखना है, बाबा को ब्रह्मा द्वारा स्थापना करानी है। बाप खुद कहते हैं – मैं इस द्वारा तुमको सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ बताता हूँ। गाते भी हैं – ब्रह्मा द्वारा स्थापना। यह नहीं जानते कि नई दुनिया को विष्णुपुरी कहा जाता है अर्थात् विष्णु के दो रूप राज्य करते थे। किसको पता नहीं है कि विष्णु कौन है। तुम जानते हो कि यह ब्रह्मा-सरस्वती ही फिर विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण बन पालना करते हैं। ब्रह्मा द्वारा स्थापना, विष्णुपुरी अर्थात् स्वर्ग की फिर पालना करेंगे। तुम्हारी बुद्धि में आना चाहिए – बाप ज्ञान का सागर है। मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है। वह इस ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। वही पतित-पावन है, जो बाप का धन्धा है, वही तुम्हारा है। तुम भी पतित से पावन बनाते हो। दुनिया में एक बाप के 3-4 बच्चे होंगे, कोई बच्चा बहुत ऊंचा चढ़ा हुआ होगा, कोई बिल्कुल नीचे होगा। यहाँ तुमको बाप एक ही धन्धा सिखाते हैं कि तुम पतितों को पावन बनाओ। सबको यह लक्ष्य दो कि शिवबाबा कहते हैं – मुझे याद करो। गीता में कृष्ण भगवानुवाच उल्टा लिख दिया है। तुमको समझाना है – भगवान तो निराकार, पुनर्जन्म रहित है। बस यही भूल है। अभी तुम बच्चे कृष्णपुरी के मालिक बन रहे हो। कोई राजधानी में आते हैं, कोई प्रजा में। कृष्णपुरी कहा जाता है क्योंकि कृष्ण सभी को बहुत ही प्यारा है। बच्चे प्यारे लगते हैं ना। बच्चों का भी माँ-बाप से प्यार हो जाता है। प्यार सारा बिखर जाता है। अब बाप समझाते हैं – तुम अपने को शरीर मत समझो। घड़ी-घड़ी अपने को आत्मा निश्चय करो। आत्म-अभिमानी बनो। बाप भी निराकार है। यहाँ भी शरीर लेना पड़ता है – समझाने के लिए। बिगर शरीर तो समझा नहीं सकेंगे। तुमको तो अपना शरीर है, बाबा फिर लोन लेते हैं। बाकी इसमें प्रेरणा आदि की बात ही नहीं। बाप खुद कहते हैं – मैं यह शरीर धारण कर बच्चों को पढ़ाता हूँ क्योंकि तुम्हारी आत्मा जो अभी तमोप्रधान बन गई है, उनको सतोप्रधान बनाना है। गाते भी हैं, पतित-पावन आओ, परन्तु अर्थ नहीं समझते। अभी तुम समझते हो – बाप कैसे आकर पावन बनाते हैं। यह भी तुम जानते हो। सतयुग में सिर्फ हमारा ही छोटा झाड़ होगा, तुम स्वर्ग में जायेंगे। बाकी जो इतने खण्ड हैं उनका नाम-निशान नहीं होगा। भारत खण्ड ही स्वर्ग होगा। परमपिता परमात्मा ही आकर हेविन की स्थापना करते हैं। अभी हेल है। प्राचीन भारत खण्ड ही है जहाँ देवताओं का राज्य था, अब नहीं है। उन्हों के यहाँ मन्दिर हैं, चित्र हैं। तो भारत की ही बात हुई। यह कोई भी भारतवासी की बुद्धि में नहीं आता कि भारत स्वर्ग था, यह लक्ष्मी-नारायण मालिक थे और कोई खण्ड नहीं था। अब तो अनेक धर्म आ गये हैं। भारतवासी धर्म-भ्रष्ट, कर्म-भ्रष्ट बन गये हैं। कृष्ण को श्याम-सुन्दर कह देते हैं परन्तु अर्थ नहीं समझते। बरोबर यह सांवरा था ना। कहते हैं कृष्ण को सर्प ने डसा तो सांवरा हो गया। अब वह तो सतयुग का प्रिन्स था, कैसे काला हो गया। अभी तुम यह बातें समझते हो। कृष्ण के माँ-बाप भी अभी पढ़ रहे हैं। माँ-बाप से उत्तम श्रीकृष्ण गाया हुआ है। माँ-बाप का कोई नाम नहीं है। नहीं तो जिस माँ-बाप से ऐसा बच्चा पैदा हुआ वह माँ-बाप भी प्यारे होने चाहिए। परन्तु नहीं, महिमा सारी राधे-कृष्ण की है। माँ-बाप की कुछ है नहीं। तुम्हारी बुद्धि में ज्ञान है। ज्ञान है दिन, भक्ति है रात। अन्धियारी रात में ठोकरें खाते रहते हैं।

अभी तुम बच्चों को समझाया जाता है – घर में रहो, यह सर्विस भी करते रहो। कोई को भी समझाओ तुम आधाकल्प के आशिक हो, एक माशूक के। भक्ति मार्ग में सभी उनको याद करते हैं तो आशिक ठहरे ना। परन्तु माशूक को पूरा जानते नहीं हैं। याद बहुत प्यार से करते हैं, हे माशूक तुम जब आयेंगे तो हम सिर्फ आपको ही याद करेंगे और सबसे बुद्धियोग तोड़ आपके साथ जोड़ेंगे। ऐसे तो गाते थे ना, परन्तु बाप से हमको क्या वर्सा मिलता है, यह किसको भी पता नहीं है। अब बाप समझाते हैं – तुम देही-अभिमानी बनो। बाप को याद करना तुम बच्चों का पहला फ़र्ज है। बच्चा हमेशा बाप को, बच्ची माँ को याद करती है। हमजिन्स हैं ना। बच्चा समझता है हम बाप का वारिस बनेंगे। बच्ची थोड़ेही कहेगी, वह तो समझती है हमको पियरघर से ससुरघर जाना है। अब तुम्हारा निराकार और साकार पियरघर है। बुलाते भी हैं, हे परमपिता परमात्मा रहम करो। दु:ख हरो सुख दो, हमें लिबरेट करो, हमारा गाइड बनो। परन्तु उसका अर्थ बड़े-बड़े विद्वान आचार्य भी नहीं जानते हैं। बाप तो सर्व का लिबरेटर है, वही सबका कल्याणकारी है। बाकी वह अपना ही कल्याण नहीं कर सकते तो औरों का क्या करेंगे। यहाँ बाप कहते हैं – मैं गुप्त आता हूँ, खुदा-दोस्त की कहानी सुनी है ना। अब यह पुल है कलियुग और सतयुग के बीच का, उस पार जाना है। अब खुदा तो बाप है, दोस्त भी है। माता, पिता, शिक्षक का पार्ट भी बजाते हैं। यहाँ तुमको साक्षात्कार होता है तो जादू-जादू कह देते हैं। साक्षात्कार तो नौधा भक्ति वालों को भी होते हैं, बहुत तीखे भक्त होते हैं। दर्शन दो नहीं तो हम गला काटते हैं, तब साक्षात्कार होता है, उनको नौधा भक्ति कहा जाता है। यहाँ नौंधा भक्ति की बात नहीं। घर में बैठे-बैठे भी बहुतों को साक्षात्कार होते रहते हैं। दिव्य दृष्टि की चाबी मेरे पास है। अर्जुन को भी मैंने दिव्य दृष्टि दी ना। यह विनाश देखो, अपना राज्य देखो। अब मामेकम् याद करो तो यह बनेंगे। अभी तुम समझते हो – विष्णु कौन है? मन्दिर बनाने वाले खुद नहीं जानते। विष्णु द्वारा पालना, 4 भुजा का अर्थ ही है – 2 भुजा मेल की, 2 फीमेल की। विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण हैं। परन्तु कुछ भी समझते नहीं हैं। किसका भी ज्ञान नहीं है। न शिवबाबा का, न विष्णु का। पहले-पहले बाबा का आकर्षण था, बहुत आते थे। शुरूआत में सारा आंगन भर जाता था। जज, मजिस्ट्रेट सब आते थे। फिर विकार का झगड़ा शुरू हुआ, कहने लगे बच्चे नहीं पैदा होंगे तो सृष्टि कैसे चलेगी। यह तो सृष्टि बढ़ने का कायदा है। गीता की बात ही भूल गये कि भगवानुवाच – काम महा-शत्रु है, उस पर जीत पानी है। कहने लगे स्त्री-पुरूष दोनों इकट्ठे आयें तो उनको ज्ञान दो। अकेले को नहीं दो। अब दोनों भी आयें तो देवें ना। देखो दोनों को इकट्ठा भी देते हैं तो भी कोई ज्ञान लेते हैं, कोई नहीं लेते हैं। तकदीर में नहीं होगा तो क्या कर सकते हैं। एक हँस, एक बगुला बन पड़ते हैं। यहाँ तुम ब्राह्मण, देवताओं से भी उत्तम हो। जानते हो – हम ईश्वरीय सन्तान हैं, शिवबाबा के बच्चे हैं। वहाँ स्वर्ग में तुमको यह ज्ञान नहीं रहेगा, न जब निराकारी दुनिया मुक्तिधाम में होंगे तब यह ज्ञान होगा। यह ज्ञान शरीर के साथ ही खत्म हो जाता है। अभी तुमको ज्ञान है, एक बाबा पढ़ा रहे हैं। अब यह खेल पूरा होता है, सब एक्टर्स हाजिर हैं। बाबा भी आया है। रही हुई आत्मायें भी आती रहती हैं। जब सब आ जायेंगे तब विनाश होगा फिर सबको बाप साथ ले जायेगा। सबको जाना है, इस पतित दुनिया का विनाश होना है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पतित से पावन बनाने का धन्धा जो बाप का है, वही धन्धा करना है। सबको लक्ष्य देना है कि बाप को याद करो और पावन बनो।

2) यह ब्राह्मण जीवन देवताओं से भी उत्तम जीवन है, इस नशे में रहना है। बुद्धि का योग और सबसे तोड़ एक माशूक को याद करना है।

वरदान:- आसक्ति को अनासक्ति में परिवर्तन करने वाले शक्ति स्वरूप भव
शक्ति स्वरूप बनने के लिए आसक्ति को अनासक्ति में बदली करो। अपनी देह में, सम्बन्धों में, कोई भी पदार्थ में यदि कहाँ भी आसक्ति है तो माया भी आ सकती है और शक्ति रूप नहीं बन सकते इसलिए पहले अनासक्त बनो तब माया के विघ्नों का सामना कर सकेंगे। विघ्नों के आने पर चिल्लाने वा घबराने के बजाए शक्ति रूप धारण कर लो तो विघ्न-विनाशक बन जायेंगे
स्लोगन:- रहम नि:स्वार्थ और लगावमुक्त हो – स्वार्थ वाला नहीं।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

16-05-21
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 31-12-87 मधुबन

नया वर्ष – बाप समान बनने का वर्ष

आज त्रिमूर्ति बाप तीन संगम देख रहे हैं। एक है बाप और बच्चों का संगम, दूसरा है यह युग संगम, तीसरा है आज वर्ष का संगम। तीनों ही संगम अपनी-अपनी विशेषता का है। हर एक संगम, परिवर्तन होने की प्रेरणा देने वाला है। संगमयुग विश्व-परिवर्तन की प्रेरणा देता है। बाप और बच्चों का संगम सर्व श्रेष्ठ भाग्य, एवं श्रेष्ठ प्राप्तियों की अनुभूति कराने वाला है। वर्ष का संगम नवीनता की प्रेरणा देने वाला है। तीनों ही संगम अपने-अपने अर्थ से महत्व रखते हैं। आज सभी देश-विदेश के बच्चे विशेष पुरानी दुनिया का नया वर्ष मनाने के लिए आये हैं। बापदादा सभी साकार रूपधारी वा आकार रूपधारी बुद्धि के विमान से पहुँचे हुए बच्चों को देख रहे हैं और नये वर्ष मनाने की डायमण्ड तुल्य मुबारक दे रहे हैं क्योंकि सब बच्चे हीरे तुल्य जीवन बना रहे हैं। डबल हीरो बने हो? एक तो बाप के अमूल्य रत्न हो, हीरो डायमण्ड हो। दूसरा हीरो पार्ट बजाने वाले हीरो हो इसलिए बापदादा हर सेकण्ड, हर संकल्प, हर जन्म की अविनाशी मुबारक दे रहे हैं। आप श्रेष्ठ आत्माओं का सिर्फ आज का दिन मुबारक वाला नहीं। लेकिन हर समय श्रेष्ठ भाग्य, श्रेष्ठ प्राप्ति के कारण बाप को भी हर समय आप मुबारक देते हो और बाप बच्चों को मुबारक देते सदा उड़ती कला में ले जा रहे हैं। इस नये वर्ष में यही विशेष नवीनता जीवन में अनुभव करते रहो – जो हर सेकेण्ड और संकल्प में बाप को तो सदा मुबारक देते हो लेकिन आपस में भी हर ब्राह्मण आत्मा वा कोई भी अन्जान, अज्ञानी आत्मा भी सम्बन्ध वा सम्पर्क में आये तो बाप समान हर समय, हर आत्मा के प्रति दिल के खुशी की मुबारक वा बधाई निकलती रहे। कोई कैसा भी हो लेकिन आपके खुशी की बधाई उनको भी खुशी की प्राप्ति का अनुभव कराये। बधाई देना – यह खुशी की लेन-देन करना है। कभी भी किसी को बधाई देते तो वह खुशी की बधाई है। दु:ख के समय बधाई नहीं कहेंगे। तो हर एक आत्मा को देख खुश होना वा खुशी देना – यही दिल की मुबारक वा बधाई है। दूसरी आत्मा भले आपसे कैसा भी व्यवहार करे लेकिन आप बापदादा की हर समय बधाई लेने वाली श्रेष्ठ आत्मायें सदा हरेक को खुशी दो। वह कांटा दे, आप बदले में रूहानी गुलाब दो। वह दु:ख दे, आप सुखदाता के बच्चे सुख दो। जैसे से वैसे नहीं बन जाओ, अज्ञानी से अज्ञानी नहीं बन सकते। संस्कारों के वा स्वभाव के वशीभूत आत्मा से आप भी ‘वशीभूत’ नहीं बन सकते।

आप श्रेष्ठ आत्माओं के हर संकल्प में सर्व के कल्याण की, श्रेष्ठ परिवर्तन की, ‘वशीभूत’ से स्वतन्त्र बनाने की दिल की दुआयें वा खुशी की मुबारक सदा नैचुरल रूप में दिखाई दे क्योंकि आप सभी दाता अर्थात् देवता हो, देने वाले हो। तो इस नये वर्ष में विशेष खुशियों की मुबारकें देते रहो। ऐसे नहीं कि सिर्फ आज के दिन वा कल के दिन चलते-फिरते मुबारक हो, मुबारक हो – यह कहके नया वर्ष आरम्भ नहीं करना। कहना भले, दिल से कहना। लेकिन सारा वर्ष कहना, सिर्फ दो दिन नहीं कहना। किसी को भी अगर दिल से मुबारक देते हो तो वह आत्मा दिल की मुबारक ले दिलखुश हो जाए। तो हर समय दिल-खुश मिठाई बांटते रहना। सिर्फ एक दिन नहीं मिठाई खाना वा खिलाना। कल के दिन मुख की मिठाइयाँ जितनी चाहिए उतनी खाना, सभी को बहुत-बहुत मिठाई खिलाना। लेकिन ऐसे ही सदा हर एक को दिल से दिलखुश मिठाई खिलाते रहो तो कितनी खुशी होगी! आजकल की दुनिया में तो फिर भी मुख की मिठाई खाने में डर भी है लेकिन यह दिलखुश मिठाई जितनी चाहिए खा सकते हो, खिला सकते हो, इसमें बीमारी नहीं होगी क्योंकि बापदादा बच्चों को समान बनाते हैं। तो विशेष इस वर्ष में बाप समान बनने की – यही विशेषता विश्व के आगे, ब्राह्मण परिवार के आगे दिखाओ। जैसे हर एक आत्मा “बाबा” कहते मधुरता वा खुशी का अनुभव करती है। ‘वाह बाबा’ कहने से मुख मीठा होता है क्योंकि प्राप्ति होती है। ऐसे हर ब्राह्मण आत्मा कोई भी ब्राह्मण का नाम लेते ही खुश हो जाए क्योंकि बाप समान आप सभी भी एक दो को बाप द्वारा प्राप्त हुई विशेषता द्वारा आपस में लेन-देन करते हो, आपस में एक दो के सहयोगी साथी बन उन्नति को प्राप्त कराते हो। जीवन साथी नहीं बनना, लेकिन कार्य के साथी भले बनो। हर एक आत्मा अपनी प्राप्त विशेषताओं से आपस में खुशी की लेन-देन करते भी हो और आगे भी सदा करते रहना। जैसे बाप को याद करते ही खुशी में नाचते हैं, वैसे हर एक ब्राह्मण आत्मा को हर ब्राह्मण याद करते रूहानी खुशी का अनुभव करे, हद की खुशी का नहीं। हर समय बाप की सर्व प्राप्तियों का साकार निमित्त रूप अनुभव करे। इसको कहते हैं हर संकल्प वा हर समय एक दो को मुबारक देना। सबका लक्ष्य तो एक ही है कि बाप समान बनना ही है क्योंकि समान के बिना तो न बाप के साथ स्वीट होम में जायेंगे और न ब्रह्मा बाप के साथ राज्य में आयेंगे। जो बापदादा के साथ अपने घर में जायेंगे वही ब्रह्मा बाप के साथ राज्य में उतरेंगे। ऊपर से नीचे आयेंगे ना। सिर्फ साथ जायेंगे नहीं लेकिन साथ आयेंगे भी। पूज्य भी ब्रह्मा के साथ बनेंगे और पुजारी भी ब्रह्मा बाप के साथ बनेंगे। तो अनेक जन्मों का साथ है। लेकिन उसका आधार इस समय समान बन साथ चलने का है।

इस वर्ष की विशेषता देखो – नम्बर भी 8, 8 हैं। आठ का कितना महत्व है! अगर अपना पूज्य रूप देखो तो अष्ट भुजाधारी, अष्ट शक्तियाँ उसी की ही यादगार है – अष्ट रत्न, अष्ट राजधानियाँ – अष्ट का भिन्न-भिन्न रूप से गायन है इसलिए यह वर्ष विशेष बाप समान बनने का दृढ़ संकल्प का वर्ष मनाओ। जो भी कर्म करो बाप समान करो। संकल्प करो, बोल बोलो, सम्बन्ध-सम्पर्क में आओ, बाप समान। ब्रह्मा बाप समान बनना तो सहज है ना क्योंकि साकार है। 84 जन्म लेने वाली आत्मा है। पूज्य अथवा पुजारी सभी की अनुभवी आत्मा है। पुरानी दुनिया के, पुराने संस्कारों के, पुराने हिसाब-किताब के, संगठन में चलने और चलाने – सब बातों के अनुभवी है। तो अनुभवी को फालो करना मुश्किल नहीं होता है। और बाप तो कहते हैं कि ब्रह्मा बाप के हर कदम के ऊपर कदम रखो। कोई नया मार्ग नहीं निकालना है, सिर्फ हर कदम पर कदम रखना है। ब्रह्मा को कापी करो। इतनी अक्ल तो है ना। सिर्फ मिलाते जाओ क्योंकि, बापदादा – दोनों ही आपके साथ चलने के लिए रुके हुए हैं। निराकार बाप परमधाम निवासी हैं लेकिन संगमयुग पर साकार द्वारा पार्ट तो बजाना पड़ता है ना इसलिए आपके इस कल्प का पार्ट समाप्त होने के साथ बाप, दादा – दोनों का भी पार्ट इस कल्प का समाप्त होगा। फिर कल्प रिपीट होगा इसलिए निराकार बाप भी आप बच्चों के पार्ट के साथ बंधा हुआ है। शुद्ध बन्धन है। लेकिन पार्ट का बन्धन तो है ना। स्नेह का बन्धन, सेवा का बन्धन… लेकिन मीठा बन्धन है। कर्मभोग वाला बन्धन नहीं है।

तो नया वर्ष सदा मुबारक का वर्ष है। नया वर्ष सदा बाप समान बनने का वर्ष है। नया वर्ष ब्रह्मा बाप को फॉलो करने का वर्ष है। नया वर्ष बाप के साथ स्वीट होम और स्वीट राजधानी में साथ रहने के वरदान प्राप्त करने का वर्ष है क्योंकि अभी से सदा साथ रहेंगे। अभी का साथ रहना सदा साथ रहने का वरदान है। नहीं तो बाराती बनेंगे और नजदीक वाले सम्बन्धी के बजाए दूर के सम्बन्धी बनेंगे। कभी-कभी मिलेंगे। कभी-कभी वाले तो नहीं हो ना? पहले जन्म में पहले राज्य का सुख और पहले नम्बर के राज्य अधिकारी विश्व महाराजा-विश्व महारानी के रॉयल सम्बन्ध, उसकी झलक और फलक न्यारी होगी! अगर दूसरे नम्बर विश्व महाराजा-महारानी की रॉयल फैमली में भी आ जाओ तो उसमें भी अन्तर है। एक जन्म का फर्क भी पड़ जायेगा। इसको भी साथ नहीं कहेंगे। कोई भी नई चीज़ एक बार भी यूज़ कर लो तो उसको यूज़ किया हुआ कहेंगे ना। नया तो नहीं कहेंगे। साथ चलना है, साथ आना है, साथ में पहले जन्म का राज्य रॉयल फैमली बन करना है। इसको कहते हैं समान बनना। तो क्या करना है, समान बनना है वा बराती बनना है?

बापदादा अज्ञानी और ज्ञानियों का एक अन्तर देख रहा था। एक दृश्य के रूप में देख रहा था। बाप के बच्चे क्या हैं और अज्ञानी क्या हैं? आज की दुनिया में विकारी आत्मायें क्या बन गई हैं? जैसे आजकल कोई भी बड़ी फैक्ट्रीज वा जहाँ भी आग जलती है तो आग का धुऑ निकालने के लिये चिमनी बनाते हैं ना। उससे सदैव धुऑ निकलता है और चिमनी सदैव काली दिखाई देगी। तो आज का मानव विकारी होने के कारण, किसी न किसी विकार वश होने के कारण संकल्प में, बोल में ईर्ष्या, घृणा या कोई न कोई विकार का धुऑ निकलता रहता है। ऑखों से भी विकारों का धुऑ निकलता रहता और ज्ञानी बच्चों के हर बोल वा संकल्प से, फरिश्तापन से दुआयें निकलती हैं। उसका है विकारों की आग का धुऑ और ज्ञानी तू आत्माओं के फरिश्ते रूप से सदा दुआयें निकलती। कभी भी संकल्प में भी किसी विकार के वश, विकार की अग्नि का धुऑ नहीं निकलना चाहिए, सदा दुआयें निकलें। तो चेक करो – कभी दुआओं के बदले धुऑ तो नहीं निकलता? फरिश्ता है ही दुआओं का स्वरूप। जब कोई भी ऐसा संकल्प आये या बोल निकले तो यह दृश्य सामने लाना – मैं क्या बन गया, फरिश्ते से बदल तो नहीं गया? व्यर्थ संकल्पों का भी धुऑ है। वह जलती हुई आग का धुऑ है, वह आधी आग का धुऑ है। पूरी आग नहीं जलती है तो भी धुऑ निकलता है ना। तो ऐसे फरिश्ता रूप हो जो सदा दुआयें निकलती रहे। इसको कहते हैं मास्टर दयालू, कृपालू, मर्सीफुल। तो अभी यह पार्ट बजाओ। अपने ऊपर भी कृपा करो तो दूसरे पर भी कृपा करो। जो देखा, जो सुना – वर्णन नहीं करो, सोचो नहीं। व्यर्थ को न सोचना, न देखना – यह है अपने ऊपर कृपा करना और जिसने किया वा कहा उसके प्रति भी सदा रहम करो, कृपा करो अर्थात् जो व्यर्थ सुना, देखा उस आत्मा के प्रति भी शुभ भावना शुभ कामना की कृपा करो। और कोई कृपा नहीं वा कोई हाथ से वरदान नहीं देंगे लेकिन मन पर नहीं रखना – यह है उस आत्मा के प्रति कृपा करना। अगर कोई भी व्यर्थ बात देखी हुई वा सुनी हुई वर्णन करते हो अर्थात् व्यर्थ बीज का वृक्ष बढ़ाते हो, वायुमण्डल में फैलाते हो – यह वृक्ष बन जाता है क्योंकि एक जो भी बुरा देखता वा सुनता है तो अपने एक मन में नहीं रख सकता, दूसरे को जरूर सुनायेगा, वर्णन जरूर करेगा। और एक का एक होता है तो क्या हो जायेगा? एक से अनेकता में आ जाते हैं। और जब एक से एक, एक से एक माला बन जाती है तो जो करने वाला होता है वह और ही व्यर्थ को स्पष्ट करने के लिए जिद्द में आ जाता है। तो वायुमण्डल में क्या फैला? व्यर्थ। यह धुऑ फैला ना। यह दुआ हुई या धुऑ? इसलिए व्यर्थ देखते हुए, सुनते हुए स्नेह से, शुभ भावना से समा लो। विस्तार नहीं करो। इसको कहते हैं दूसरे के ऊपर कृपा करना अर्थात् दुआ करना। तो तैयारी करो समान बन साथ चलने और साथ रहने की। ऐसे तो नहीं समझते हो कि अभी यहाँ ही रहना ठीक है, साथ चलने की तैयारी अभी नहीं करें, थोड़ा और रूकें? रुकने चाहते हो? रुकना भी हो तो बाप समान बन करके रुको। ऐसे ही नहीं रुको, लेकिन समान बनके रुको। फिर भले रुको, छुट्टी है। आप तो एवररेडी हो ना? सेवा रुकाती है वा ड्रामा रूकाता है, वह और बात है लेकिन अपने कारण से रुकने वाले नहीं बनो। कर्मबन्धन वश रुकने वाले नहीं। कर्मों के हिसाब-किताब का चौपड़ा साफ और स्पष्ट होना चाहिए। समझा। अच्छा!

चारों ओर के सर्व बच्चों को नये वर्ष की महानता से महान बनने की मुबारक सदा साथ रहे। सर्व हिम्मत वाले, फॉलो फादर करने वाले, सदा एक दो में दिलखुश मिठाई खिलाने वाले, सदा फरिश्ता बन दुआयें देने वाले, ऐसे बाप समान दयालू, कृपालू बच्चों को समान बनने की मुबारक साथ-साथ बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

डबल विदेशी भाई-बहिनों से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

सदा अपने को संगमयुगी श्रेष्ठ आत्मायें अनुभव करते हो? श्रेष्ठ आत्माओं का हर संकल्प वा बोल वा हर कर्म स्वत: ही श्रेष्ठ होता है। तो हर कर्म श्रेष्ठ बन गया है ना? जो जैसा होता है वैसा ही उसका कार्य होता है। तो श्रेष्ठ आत्माओं का कर्म भी श्रेष्ठ ही होगा ना। जैसी स्मृति होती है वैसी स्थिति स्वत: होती है। तो श्रेष्ठ स्थिति नेचुरल स्थिति है क्योंकि हो ही विशेष आत्मायें। ऊंचे ते ऊंचे बाप के बन गये तो जैसा बाप वैसे बच्चे हुए ना। बच्चों के लिए सदा कहा जाता है सन शोज़ फादर। तो ऐसे हो? आप सबके दिल में कौन समाया है? जो दिल में होगा वही बुद्धि में होगा, बोल में होगा, संकल्प में भी वही होगा। आप लोग कार्ड भी हार्ट का ले आते हो ना। गिफ्ट भी हार्ट की भेजते हो। तो यह अपनी स्थिति का चित्र भेजते हो ना। तो जो बाप की दिल पर सदा रहता है वह सदा ही जो बोलेगा, जो करेगा वह स्वत: ही बाप समान होगा। बाप समान बनना मुश्किल नहीं है ना? सिर्फ डॉट (बिन्दी) याद रखो तो मुश्किल नॉट हो जायेगी। डॉट को भूलते हो तो नॉट नहीं होता। कितना सहज है डॉट बनाना वा डॉट लगाना। सारा ज्ञान इसी एक डॉट शब्द में समाया हुआ है। आप भी बिन्दी, बाप भी बिन्दी और जो बीत गया उसे भी बिन्दी लगा दो, बस। छोटा बच्चा भी लिखने जब शुरू करता है तो पहले जब पेन्सिल कागज पर रखता है तो क्या बन जाता? डॉट बनेगा ना? तो यह भी बच्चों का खेल है। यह पूरा ही ज्ञान की पढ़ाई खेल-खेल में है। मुश्किल काम नहीं दिया है इसलिए काम भी सहज है और हो भी सहज-योगी। बोर्ड में भी लिखते हो “सहज राज-योग”। तो ऐसा सहज अनुभव करना, इसे ही ज्ञान कहा जाता है। जो नॉलेजफुल हैं वह स्वत: ही पॉवरफुल भी होंगे क्योंकि नॉलेज को लाइट और माइट कहा जाता है। तो नॉलेजफुल आत्मायें सहज ही पॉवरफुल होने के कारण हर बात में सहज आगे बढ़ती हैं। तो यह सारा ग्रुप सहजयोगियों का ग्रुप है ना। ऐसे ही सहजयोगी रहना। अच्छा।

वरदान:- संशय के संकल्पों को समाप्त कर मायाजीत बनने वाले विजयी रत्न भव
कभी भी पहले से यह संशय का संकल्प उत्पन्न न हो कि ना मालूम हम फेल हो जायें, संशयबुद्धि होने से ही हार होती है इसलिए सदा यही संकल्प हो कि हम विजय प्राप्त करके ही दिखायेंगे। विजय तो हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है, ऐसे अधिकारी बनकर कर्म करने से विजय अर्थात् सफलता का अधिकार अवश्य प्राप्त होता है, इसी से विजयी रत्न बन जायेंगे इसलिए मास्टर नॉलेजफुल के मुख से नामालूम शब्द कभी नहीं निकलना चाहिए।
स्लोगन:- रहम की भावना सहज ही निमित्त भाव इमर्ज कर देती है।

TODAY MURLI 16 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

16/05/21
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
31/12/87

The New Year, the Year to become equal to the Father.

Today, the Trimurti Father is looking at three confluences (meetings). One is the meeting of the Father and the children. The second is this confluence age and the third is the meeting of the years. Each of the three confluences has its own speciality. Each confluence is one that inspires you to bring about transformation. The confluence age inspires world transformation. The confluence of the Father and the children is one that makes you experience the most elevated fortune and the most elevated attainments. The confluence of the years inspires you to have newness. Each of the three confluences has its own significance. Today, all the children from this land and abroad have especially come to celebrate the New Year of the old world. BapDada is seeing all the children who are here in their physical forms and the children in their subtle forms who have reached here with the viman of their intellects, and is giving diamond congratulations for celebrating the New Year because all the children are making their lives as valuable as diamonds. Have you become double heroes (diamonds)? Firstly, each of you is the Father’s invaluable jewel; you are a hero (diamond). Secondly, you are a hero who plays a hero part. This is why BapDada is giving everlasting congratulations for every second, every thought and every birth. For you elevated souls, it is not just today that you give congratulations, but it is because of having elevated fortune and elevated attainment at every moment that you congratulate the Father at every moment, and the Father congratulates you children and constantly takes you into the flying stage. In this New Year, continue to experience this special newness in your lives. You of course congratulate the Father at every second and in every thought. With each other too – like the Father, let congratulations of happiness and greetings continue to emerge from your hearts at every moment for every soul – whether they are Brahmin souls, souls you don’t know, souls without knowledge or those who are in contact and connection with you. No matter what someone is like, let your greetings of happiness give that one an experience of the attainment of happiness. To give greetings is to give and receive happiness. Whenever you give anyone greetings, those are greetings of happiness. You would not give congratulations at a time of sorrow. So, seeing every soul, be happy and give happiness: this is to give congratulations and greetings from the heart. It doesn’t matter what type of interaction the other soul has with you, you elevated souls, who constantly receive greetings from BapDada have to give everyone happiness. If they give you thorns, you, in return, give them spiritual roses. If they cause you sorrow, you children of the Bestower of Happiness give them happiness. Do not treat them in the same way as they treat you. You cannot become ‘ignorant’ (agyani – without knowledge) with those who are ignorant. You cannot be influenced by a soul who is influenced by his sanskars or nature.

In every thought of you elevated souls, let blessings and greetings of happiness to benefit everyone, to transform everyone and to free influenced souls – be visible in a natural way, because all of you are bestowers, that is, deities – those who give. So, in this New Year, especially continue to give greetings of happiness. Let it not be that you go around saying, “Greetings, greetings,” just today and tomorrow. Do not begin the New Year just saying this. By all means say it, but say it from your hearts and say it throughout the whole year; do not just say it for two days. When you give a soul greetings from your heart, then that soul’s heart becomes happy when it receives greetings from the heart. So, continue to distribute the Dilkhush (happy-heart) toli at every moment. Do not eat and give others this sweet on just one day. Tomorrow, eat as much of such sweet (toli) as you want; feed everyone lots and lots of this sweet. If you continue to give each one Dilkhush toli from your heart in this same way, you will have so much happiness. In today’s world, people are still a little afraid to eat sweet things, but you can eat as much of this Dilkhush sweet as you want; you can give them as much as they want. This won’t make you ill, because BapDada is making you children equal to Him. So, this year, especially show the world and the Brahmin family the speciality of becoming equal to the Father. For instance, when any soul says “Baba”, he experiences sweetness and happiness. By saying, “Wah Baba!” your mouth is sweetened, because you attain something. In the same way, let every Brahmin soul become happy just mentioning the name of any Brahmin soul, because all of you are also equal to the Father and so you share between you the specialities you have received from the Father. You are co-operative companions with one another and you continue to make progress. Don’t be each other’s life companions, but companions in the task. All of you souls continue to share happiness between yourselves with the specialities that you have attained and you will continue to do that in the future too. Just as you dance in happiness as soon as you remember the Father, in the same way, as soon as every one of you Brahmin souls remembers another Brahmin soul, you experience spiritual happiness, not limited happiness. At every moment, experience all attainments from the Father practically. This is known as giving each other greetings at every moment and through every thought. Everyone’s aim is the same: you have to become equal to the Father because, without becoming equal, you will neither be able to go back with the Father to the sweet home, nor will you go into the kingdom with Father Brahma. Those who go back home with BapDada will go down into the kingdom with Father Brahma. You will come down from up above, will you not? You will not just go back together but also come down together. You will be worthy of worship with Brahma and also become a worshipper with Father Brahma. So, you have the companionship for many births. However, the basis of that is to become equal at this time and to go back with him.

Look at the speciality of this coming year: it has the numbers 8 and 8. The number 8 has so much importance. If you look at your worthy-of-worship form, there is the memorial of those with eight arms, and eight powers. There are eight jewels, eight kingdoms. The figure eight is remembered in many different ways. Therefore, celebrate this year especially as the year for having the determination to become equal to the Father. Whatever actions you perform, let them be equal to those of the Father. Whatever thoughts you have, whatever words you speak, when you come into connection or relationship with someone, be equal to the Father. It is easy to become equal to Father Brahma because he is corporeal. He is a soul who takes 84 births. He is a soul who has experienced being worthy of worship and also a worshipper. He has experienced the old world, old sanskars, old karmic accounts, being in a gathering and getting everyone to work together in a gathering: he is experienced in everything. So, it is not difficult to follow someone who is experienced, and the Father is telling you to place your every step in Father Brahma’s footsteps. You don’t have to find a new path. You simply have to place your steps in the footsteps. Copy Brahma. You have this much wisdom, do you not? Simply continue to match yourself, because both Bap and Dada are waiting for you to go back with them. The incorporeal Father is the Resident of the supreme abode but, at the confluence age, He has to play His part through the corporeal form, does He not? Therefore, together with this part of the cycle ending, the parts of both Bap and Dada will also end for this cycle. The cycle will then repeat. This is why the incorporeal Father is also bound to the parts of you children. It is a pure bondage. However, there is the bondage of the part, is there not? It is a bondage of love, a bondage of service, but it is a sweet bondage: it is not a bondage of karma.

So, the New Year is the year for constant greetings. The New Year is the year for constantly being equal to the Father. The New Year is the year to follow Father Brahma. The New Year is the year for receiving the blessing to be with the Father in the sweet home and in the kingdom, because you will remain in constant company from now. To be together at this time is the blessing of being with Him always. Otherwise, you will become part of the procession and, instead of being close relatives, you will be distant relatives. You will only meet sometimes. You are not those who only meet sometimes, are you? The happiness of the first birth and the sparkle and intoxication of a royal relationship with the world emperor and world empress, who have a right to the first kingdom, will be unique. Even if you go into the royal family of the second world emperor and empress, there would still be a difference. Even one birth would make a difference. That too is not called being together. Once anything new is used, it becomes a used thing, does it not? It would not be called new anymore. You have to go back together, descend together and rule in the kingdom of the first birth together as part of the royal family. This is called becoming equal. So, what do you want to do? Do you want to become equal or part of the procession?

BapDada was seeing one difference between those without knowledge and those with knowledge. He was seeing it in the form of a scene. What are the Father’s children like and what are the children without knowledge like? What have vicious souls become like in today’s world? Big factories and places where they burn something have chimneys to let out the smoke. Smoke is constantly coming out of those chimneys and it always seems black. Similarly, because today’s human beings are vicious, because they are influenced by one vice or another, the smoke of jealousy, dislike or any other type of vice continues to emerge in their thoughts and words. The smoke of vices continues to emerge from their eyes, whereas blessings continue to emerge from the words and thoughts of children with knowledge, in their angelic stage. They have the smoke of the fire of vices, whereas you gyani souls constantly have blessings emerging from your angelic forms. Let no smoke of the fire of vices emerge under the influence of vices even in your thoughts. Always let blessings emerge. Therefore, check yourself: does smoke (dhuwa) sometimes emerge instead of blessings (duwa)? Angels are embodiments of blessings. If you ever have any such thought or such words, then bring this scene in front of you: What have I become? Have I changed from being an angel? There is the smoke of even waste thoughts. That is the smoke of a burning fire and this is the smoke of a half lit fire. When there isn’t an intense fire burning, smoke still emerges. So, become such an angel that blessings always continue to emerge. This is known as being master merciful, compassionate, merciful. So now play this part. Have mercy for yourself and also for others. Whatever you saw, whatever you heard, do not speak about it, do not think about it. Do not think about anything wasteful. Do not see it. This is having mercy for yourself, and always having mercy for those who did or said something. Have mercy, that is, whatever wasteful thing you saw or heard about another soul, have good wishes and pure feelings of mercy for that soul. You won’t have any other type of mercy or give any other blessings, but do not keep anything in your mind. This is having mercy for that soul. If you speak about anything wasteful that you have seen or heard about, that is, if you are growing a tree from a wasteful seed, if you are spreading it into the atmosphere, that becomes a big tree. This is because whatever bad things a person sees or hears and is unable to keep in his own mind, he will definitely relate it to others; he will definitely speak about it. Then each one has someone else to relate it to, so what does that then become? From one, there will then be many. Then, when a rosary is created one after another, the one who did that wasteful thing would become even more stubborn to justify himself. So, what was spread into the atmosphere? Waste. It was smoke that was spread, was it not? Were those blessings or smoke? Therefore, while seeing or hearing anything wasteful, merge it with love and good wishes. Do not expand it. This is known as having mercy for others, that is, of giving blessings. So make preparations to become equal and to go back with the Father and to stay with Him. You do not think that it is fine just to stay here, do you? Or, that you shouldn’t now prepare to go back with Him, but rather stay here a little longer, do you? Do you want to stay here a little longer? Even if you want to stay here, then stay here by becoming equal to the Father. Do not stay here just like that, but become equal and stay here. You may then stay here; you have permission for that. You are ever ready, are you not? If service or the drama makes you stay here, that is a different matter, but don’t stay here for your own reasons. You are not those who stay here because of your karmic bondages. Let the account book of karmic accounts be clean and clear. Do you understand? Achcha.

To all the children from everywhere, may the congratulations for becoming great through the greatness of the New Year constantly be with you. To all those who have courage, who follow the Father, to those who always give one another Dilkhush toli, to those who are always angels and give blessings to others, to such merciful, compassionate children congratulations for becoming equal to the Father, and BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting double-foreign brothers and sisters

Do you constantly experience yourselves to be the elevated confluence-aged souls? Every thought, word and action of elevated souls is automatically elevated. So, every action has become elevated, has it not? As is the person, so his task. So, the actions of elevated souls would be elevated, would they not? As is your awareness, so automatically your stage. So, the elevated stage is your natural stage because you are special souls. Now that you belong to the highest-on-high Father, as is the Father, so are the children, are they not? For children it is always said: Son shows Father. So, are you like that? Who is merged in the hearts of all of you? Whoever is in your heart will be in your intellect, in your words and in your thoughts. You all bring cards of the heart, do you not? You also send gifts of the heart. So, they are images of your stage that you send, are they not? So, those who constantly remain in the Father’s heart will always automatically say and do the things that are equal to those of the Father. It is not difficult to become equal to the Father, is it? Simply remember the dot and any difficulty will become “not. When you forget the dot, it doesn’t become “not. It is so easy to make a dot or to put a dot. All the knowledge is merged in this one word “dot. You are a dot, the Father is a dot and, whatever has passed, put a dot to that. That is all. When a small child starts to write, when he puts his pencil on the paper, what does it become? It would be a dot, would it not? So, this too is child’s play. The whole study of this knowledge is carried out as a game. You have not been given a difficult job. Therefore, the work is easy and you are easy yogis. On the board too, you write “Easy Raj Yoga”. So to experience it to be easy is said to be knowledge. Those who are knowledge-full will also automatically be powerful because knowledge is said to be light and might. So, because knowledge-full souls are easily powerful, they easily move forward. Therefore, this whole group is of easy yogis. Constantly remain easy yogis in this way. Achcha.

Blessing: May you become a victorious jewel and a conqueror of Maya by finishing thoughts of doubt.
Never allow a thought of doubt to arise about yourself and think “Perhaps I may fail. It is by having an intellect filled with doubt that you are defeated. Therefore, always have the thought that you will definitely show everyone by gaining victory. Victory is our birthright; by doing everything while having all rights, you definitely have a right to victory, that is, success. In this way, you will become a victorious jewel. This is why words such as, “I don’t know, but, perhaps…” should never emerge from the lips of a master knowledge-full soul.
Slogan: The feeling of mercy easily makes the consciousness of being an instrument emerge.

 

*** Om Shanti ***
Font Resize