advance murli

TODAY MURLI 22 APRIL 2021 DAILY MURLI (English)

22/04/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to salvage Bharat. At this time you children become the Father’s helpers. Only Barat is an ancient land.
Question: What small things obstruct you from climbing up to the high destination?
Answer: If there is the slightest interest in anything, if you don’t have an attitude free from attraction, if your intellect is engrossed in wearing good clothes or eating good food, then those things obstruct you from reaching the high destination. This is why Baba says: Children, have simplicity. You have to forget everything. Even your body should not be remembered.

Om shanti. It has been explained to you children that this Bharat is an imperishable land and that its original name is Bharat; the name Hindustan was given later. Bharat is called a spiritual land. It is an ancient land. When there was the land of Bharat in the new world, there were no other lands. The main religions are those of Islam, Buddhism and Christianity. There are now so many lands. Bharat is an imperishable land. It was called heaven, swarg. In the new world, there is only the one land of Bharat. The Creator of the new world is the Supreme Father, the Supreme Soul, the Creator of Heaven, Heavenly God, the Father. The people of Bharat know that this Bharat is an imperishable land. Bharat was heaven. When someone dies, people say that he has gone to heaven as though heaven is up above. They have shown images of heaven in the Dilwala Temple on the ceiling above. It doesn’t enter anyone’s intellect that Bharat used to be heaven. However, it is no longer that; it is now hell. This is ignorance. There are the two things: knowledge and ignorance. Knowledge is called the day and ignorance is called the night. It is said, “Extreme light and extreme darkness”. Light means the rise, and darkness means the fall. People go to see the sunset, but that is a limited matter. For this it is said: The day of Brahma and the night of Brahma. Brahma is the Father of People. Therefore, he is definitely the father of all people. When the Satguru gives the ointment of knowledge, the darkness of ignorance is dispelled. No one in the world understands these things. This is new knowledge for the new world. For heaven, you need knowledge from Heavenly God, the Father. It is sung: The Father is knowledge-fullHe is therefore the Teacher. The Father is called the Purifier. No one else can be called the Purifier. Even Shri Krishna cannot be called that. The Father of all is One. Shri Krishna cannot be the Father of all. When he grows up and marries, he becomes the father of one or two children. Radhe and Krishna are called a princess and prince. They must have married at some point. Only after their marriage can they become parents. They couldn’t be called God, the World Father. Only the one incorporeal Father can be called God, the World Father. Shiv Baba cannot be called the great-great-grandfather. The great-greatgrandfather is Prajapita Brahma; the genealogical tree emerges from him. That One is incorporeal God, the Father. He is the Father of all incorporeal souls. On the path of devotion, incorporeal souls here, in bodies, call out to Him. You are listening to all of these new things. These are not written accurately in any of the scriptures. The Father says: I sit here and personally explain to you children. All of this knowledge then disappears. Then, when the Father comes, He gives accurate knowledge. Only to you children does He explain personally and give the inheritance. Later on, the scriptures are created. They cannot be created accurately because the world of truth finishes and it becomes the land of falsehood. Therefore, there would only be false things because there is only the stage of descent. It is with truth that there is the stage of ascent. Devotion is the night. People stumble around in the darkness of the night; they continue to bow their heads. There is such extreme darkness! People don’t know anything. They continue to stumble from door to door. There is the rise and fall of this sun which the children go to see. You children now have to see the rise of the Sun of Knowledge. There is the rise of Bharat and the downfall of Bharat. Bharat sinks just like the sun. In the story of the true Narayan, they show how the boat of Bharat sinks. Then the Father comes and salvages it. You are once again salvaging this Bharat. Only you children understand this. You send out invitations for this exhibition and the title of it, “Construction of the New World”, is correct. It is an exhibition of how the new world is established. This explanation is given through the pictures. Therefore, it will be good if that name continues. You show how the new world is established and how there is the rise of the new world. There is definitely the fall of the old world and that is why you show how there is the rise. There is also a story of how you claim the kingdom and how you then lose it. What was there 5000 years ago? It would be said that there was the sun-dynasty kingdom. Then the moon-dynasty kingdom was established. Those people claim the kingdom from one another. They show that they claimed the kingdom from so-and-so. They do not understand the picture of the ladder. Only the Father explains how you went into the silver age from the golden age, how you continued to come down the ladder. This is the ladder of 84 births. You have to come down the ladder and then ascend it. The secret of the downfall has to be explained: for how long there is the downfall of Bharat and for how long there is the rise of Bharat. The fall and rise are of the people of Bharat. You have to churn the ocean of knowledge about how to tempt people. Then you also have to send them invitations. “Brothers and sisters, come and understand.” First, tell them the Father’s praise. There should be a board with Shiv Baba’s praise on it: Come and claim your sun and moon dynasty inheritance from Shiv Baba, the Purifier, the Ocean of Knowledge, the Ocean of Purity, the Ocean of Happiness and Peace, the Ocean of Prosperity, the Bestower of Salvation for All, the Father of the World, the Teacher of the World and the Guru of the World. People would then know the Father. The praise of the Father is different from the praise of Shri Krishna. This is in the intellects of you children. Serviceable children will run around all day. They would even take leave from their worldly jobs and engage themselves in doing spiritual service. This is the Godly Government. If you daughters especially engage yourselves in doing such service, you can glorify the name a great deal. Serviceable children are sustained very well because Shiv Baba’s treasure-store is overflowing. The treasure store you eat from is always overflowing and it removes your sorrow and suffering. You belong to the clan of Shiva. He is the Creator and this is His creation. The name “Babul” (Father) is very sweet. Shiva is also the Bridegroom. The praise of Shiv Baba is completely distinct. When you write the word “incorporeal” they think that He doesn’t have a form. Shiv Baba is the most beloved. You definitely have to write ‘supremely beloved’. At this time they have a battlefield and you also have a battlefield. “Nonviolent Shiv Shaktis” has been remembered. However, people have portrayed goddesses with weapons and made them out to be violent. In fact, you claim the sovereignty of the world with remembrance and the power of yoga; there is no question of weapons etc. There is a lot of influence of the Ganges. Many will have visions. On the path of devotion, they believe that it is only when they take some water of the Ganges that they can receive salvation. That is why they continue to speak of the incognito Ganges. They say that the Ganges emerged at the place where the arrow landed. They even show the Ganges emerging from a Gaumukh (cow’s mouth). If you asked them, they would say that an incognito Ganges is emerging. They have shown the incognito Saraswati at the Triveni (where three rivers meet). They have made up many stories. Here, there is just the one thing, just Alpha, that’s all! Allah comes and establishes Bahist (heaven). Khuda establishes heaven. Ishwar establishes heaven. In fact, God is One. They have given Him many different names in their own languages. However, they definitely do understand that they will receive the sovereignty of heaven from Allah. Here, the Father says: Manmanabhav! By remembering the Father you will definitely remember your inheritance. The creation of the Creator is heaven. It cannot be said that Rama (God) created hell. The people of Bharat don’t know who the incorporeal Creator is. You know that the creator of hell is Ravan, whose effigy people burn. The sapling of the path of devotion grows very large in the kingdom of Ravan. They have created a fearsome form of Ravan. They even say that Ravan is their enemy. The Father has explained that there is such great expansion, which is why they make a Ravan with a big body. Shiv Baba is just a point but they represent Him with a large image. How could a point be worshipped? They have to become worshippers. It is said of souls that a wonderful star shines in the centre of the forehead. Then they say that each soul is the Supreme Soul. So, how could He be brighter than a thousand suns? They speak of the soul but they don’t understand it. If God were brighter than a thousand suns, how could He enter everyone? They have said such wrong things and look what they have now become by listening to them! They say that each soul is the Supreme Soul. Therefore, the Father’s form should also be the same. However, they have made His form larger in order to worship Him. They make such big stone images, as tall as the Pandavas that have been made in the caves. They don’t understand anything. This is a study. A business is separate from a study. Baba teaches you and also teaches you a business. On the board, there should also first be praise of the Father. The full praise of the Father has to be written. These things enter the intellects of you children, numberwise, according to the efforts you make and this is why they say there are elephant riders and horse riders. It is not a question of weapons etc. The Father opens the locks on your intellects. No one else can open these Godrej locks. When any children come to meet the Father, Baba asks them: Have we met before? Have we met in this place on this day before? The children reply: Yes Baba, we met 5000 years ago. No one else can ask these things in the same way. These are such deep matters and have to be understood. Baba explains knowledge in so many clever ways, but you imbibe them, numberwise. The praise of Shiv Baba is separate from the praise of Brahma, Vishnu and Shankar. Each one’s part is individual. The part of one cannot be the same as another’s. This drama is eternal. It will then repeat. It is now in your intellects how you go to the incorporeal world and how you then come down here to play your parts. You go via the subtle region. When you come back, the subtle region doesn’t exist. No one there has visions of the subtle region. No one there does tapasya to have visions of the subtle region because no one there knows about it. There won’t be devotees of the subtle region. The subtle region is created now so that you can go back via the subtle region and then go to the new world. At this time you continue to go and return from there. You are now engaged and this is your mother’s home. Vishnu is not called the Father. That is your in-laws’ home. When a girl goes to her in-laws’ house, she leaves all her old clothes behind. You completely leave the old world behind. There is so much difference between your simplicity and theirs. You have to remain completely free from attraction. Body consciousness also has to be broken. When you put on an expensive sari, you immediately become body conscious and forget that you are a soul. At this time you are in exile (have simplicity). Simplicity and the stage of retirement are the same thing. The body has to be shed. Therefore, would you not renounce the sari? Sometimes, when someone receives a cheap sari, her heart shrinks. You should be happy that you receive something cheap. Good things have to be looked after very carefully. The trivial things of wearing good clothes and eating good food also obstruct you in reaching your high destination. The destination is very high. They tell a religious story about how a wife told her husband to renounce even his walking stick. The Father says: These old clothes and this old world are all to finish. Therefore, break your intellects’ yoga away from the whole world. This is called unlimited renunciation. Sannyasis used to have limited renunciation, but they have now started to settle inside (the cities). Previously, they had a lot of strength. How can there be praise of those who come down? New souls will continue to come down to play their parts till the end. How much strength would they have? You take the full 84 births. A very good intellect is needed to understand all of these things. Serviceable children will continue to have a lot of enthusiasm for doing service. The children of the Ocean of Knowledge should give lectures with enthusiasm like Baba does. One shouldn’t be disheartened in this. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Make your intellect have unlimited renunciation. It is now time to return home. Therefore, remain free from any attraction to the old world and old bodies.
  2. Remain cheerful while observing every scene of the drama.
Blessing: May you be completely viceless and create every thought, speak every word and perform every action while stable in your highest position.
To be completely viceless means that you are not attracted by any percentage to any vice nor can you be influenced by any vice. Souls who have the highest position cannot have any ordinary thoughts. So, before you create any thoughts or perform any actions, check: Is the task as elevated as is your name? If your name is elevated and your task is low, you are then defaming the name. Therefore, adopt the qualifications appropriate to your aim, and you will then be said to be completely viceless, that is, a holiest soul.
Slogan: While doing anything, have the awareness of the Father who is Karankaravanhar and there will be a proper balance between your own effort and yoga.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 22 APRIL 2021 : AAJ KI MURLI

22-04-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप आये हैं, भारत को सैलवेज करने, तुम बच्चे इस समय बाप के मददगार बनते हो, भारत ही प्राचीन खण्ड है”
प्रश्नः- ऊंची मंजिल में रूकावट डालने वाली छोटी-छोटी बातें कौन सी हैं?
उत्तर:- अगर जरा भी कोई शौक है, अनासक्त वृत्ति नहीं है। अच्छा पहनने, खाने में बुद्धि भटकती रहती है… तो यह बातें ऊंची मंजिल पर पहुंचने में अटक (रुकावट) डालती हैं इसलिए बाबा कहते बच्चे, वनवाह में रहो। तुम्हें तो सब कुछ भूलना है। यह शरीर भी याद न रहे।

ओम् शान्ति। बच्चों को यह समझाया है कि यह भारत ही अविनाशी खण्ड है और इसका असुल नाम है ही भारत खण्ड। हिन्दुस्तान नाम तो बाद में पड़ा है। भारत को कहा जाता है-स्प्रीचुअल खण्ड। यह प्राचीन खण्ड है। नई दुनिया में जब भारत खण्ड था तो और कोई खण्ड थे नहीं। मुख्य हैं ही इस्लामी, बौद्धी और क्रिश्चियन। अभी तो बहुत खण्ड हो गये हैं। भारत अविनाशी खण्ड है, उसको ही स्वर्ग, हेविन कहते हैं। नई दुनिया में नया खण्ड एक भारत ही है। नई दुनिया रचने वाला है परमपिता परमात्मा, स्वर्ग का रचयिता हेविनली गॉड फादर। भारतवासी जानते हैं कि यह भारत अविनाशी खण्ड है। भारत स्वर्ग था। जब कोई मरता है तो कहते हैं स्वर्ग पधारा, समझते हैं स्वर्ग कहाँ ऊपर में है। देलवाड़ा मन्दिर में भी वैकुण्ठ के चित्र छत में दिखाये हैं। यह किसकी बुद्धि में नहीं आता कि भारत ही हेविन था, अब नहीं है। अभी तो हेल है। तो यह भी अज्ञान ठहरा। ज्ञान और अज्ञान दो चीजें होती हैं। ज्ञान को कहा जाता है दिन, अज्ञान को रात। घोर सोझरा और घोर अन्धियारा कहा जाता है। सोझरा माना राइज़, अन्धियारा माना फाल। मनुष्य सूर्य का फाल देखने के लिए सनसेट पर जाते हैं। अब वह तो है हद की बात। इसके लिए कहा जाता है ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात। अब ब्रह्मा तो है प्रजापिता। तो जरूर प्रजा का पिता हुआ। ज्ञान अंजन सतगुरू दिया, अज्ञान अन्धेर विनाश। यह बातें दुनिया में कोई भी नहीं समझते हैं। यह है नई दुनिया के लिए नई नॉलेज। हेविन के लिए हेविनली गॉड फादर की नॉलेज चाहिए। गाते भी हैं फादर इज़ नॉलेजफुल। तो टीचर हो गया। फादर को कहा ही जाता है पतित-पावन और कोई को पतित-पावन कह नहीं सकते। श्रीकृष्ण को भी नहीं कह सकते। फादर तो सबका एक ही है। श्रीकृष्ण तो सबका फादर है नहीं। वह तो जब बड़ा हो, शादी करे तब एक दो बच्चे का बाप बनेगा। राधे-कृष्ण को प्रिन्स प्रिन्सेज़ कहा जाता है। कभी स्वयंवर भी हुआ होगा। शादी के बाद ही माँ बाप बन सकते हैं। उनको कभी कोई वर्ल्ड गॉड फादर कह नहीं सकते। वर्ल्ड गॉड फादर सिर्फ एक ही निराकार बाप को कहा जाता है। ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर शिवबाबा को नहीं कह सकते। ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर है प्रजापिता ब्रह्मा। उनसे बिरादरी निकलती है। वह इनकारपोरियल गॉड फादर, निराकार आत्माओं का बाप है। निराकारी आत्मायें जब यहाँ शरीर में हैं तब भक्ति मार्ग में पुकारती हैं। यह सब तुम नई बातें सुनते हो। यथार्थ रीति कोई भी शास्त्र में नहीं है। बाप कहते हैं, मैं सम्मुख बैठ तुम बच्चों को समझाता हूँ। फिर यह ज्ञान सारा गुम हो जाता है। फिर जब बाप आये तब आकर यथार्थ ज्ञान सुनाये। बच्चों को ही सम्मुख समझाकर वर्सा देते हैं। फिर बाद में शास्त्र बनते हैं। यथार्थ तो बन न सकें क्योंकि सच की दुनिया ही खत्म हो झूठ खण्ड हो जाता है। तो झूठी चीज़ ही होगी क्योंकि उतरती कला ही होती है। सच से तो चढ़ती कला होती है। भक्ति है रात, अन्धियारे में ठोकरें खानी पड़ती हैं। माथा टेकते रहते हैं। ऐसा घोर अन्धियारा है। मनुष्यों को तो कुछ भी पता नहीं रहता है। दर-दर धक्के खाते रहते हैं। इस सूर्य का भी राइज़ और फॉल होता है, जो बच्चे जाकर देखते हैं। अब तो तुम बच्चों को ज्ञान सूर्य का उदय होना देखना है। राइज़ ऑफ भारत और डाउन फॉल ऑफ भारत। भारत ऐसे डूबता है जैसे सूर्य डूबता है। सत्यनारायण की कथा में यह दिखाते हैं कि भारत का बेड़ा नीचे चला जाता है फिर बाप आकर उनको सैलवेज़ करते हैं। तुम इस भारत को फिर से सैलवेज़ करते हो। यह तुम बच्चे ही जानते हो। तुम निमत्रण भी देते हो, नव-निर्माण प्रदर्शनी भी नाम ठीक है। नई दुनिया कैसे स्थापन होती है, उसकी प्रदर्शनी। चित्रों द्वारा समझानी दी जाती है। तो वही नाम चला आये तो अच्छा है। नई दुनिया कैसे स्थापन होती है वा राइज़ कैसे होती है, यह तुम दिखाते हो। जरूर पुरानी दुनिया फॉल होती है तब दिखाते हैं कि राइज़ कैसे होता है। यह भी एक स्टोरी है – राज्य लेना और गँवाना। 5 हजार वर्ष पहले क्या था? कहेंगे, सूर्यवंशियों का राज्य था। फिर चन्द्रवंशी राज्य स्थापन हुआ। वह तो एक दो से राज्य लेते हैं। दिखाते हैं फलाने से राज्य लिया। वह कोई सीढ़ी नहीं समझते। यह तो बाप समझाते हैं कि तुम गोल्डन एज़ से सिल्वर एज़ में गये, सीढ़ी उतरते आये। यह 84 जन्मों की सीढ़ी है। सीढ़ी उतरनी होती है फिर चढ़नी भी होती है। डाउन फॉल का भी राज़ समझाना होता है। भारत का डाउन फॉल कितना समय, राइज़ कितना समय? फॉल एण्ड राइज़ ऑफ भारतवासी। विचार सागर मंथन करना होता है। मनुष्यों को टैम्पटेशन में कैसे लायें और फिर निमत्रण भी देना है। भाइयों-बहनों आकर समझो। बाप की महिमा तो पहले बतानी है। शिवबाबा की महिमा का एक बोर्ड होना चाहिए। पतित-पावन ज्ञान का सागर, पवित्रता, सुख-शान्ति का सागर, सम्पत्ति का सागर, सर्व का सद्गति दाता, जगत-पिता, जगत-शिक्षक, जगत-गुरू शिवबाबा से आकर अपना सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी वर्सा लो। तो मनुष्यों को बाप का पता पड़े। बाप की और श्रीकृष्ण की महिमा अलग-अलग है। यह तुम बच्चों की बुद्धि में बैठा हुआ है। सर्विसएबुल बच्चे जो हैं वे सारा दिन दौड़ा-दौड़ी करते रहते हैं। अपनी लौकिक सर्विस होते भी छुट्टी ले सर्विस में लग जाते हैं। यह है ही ईश्वरीय गवर्मेन्ट। खास बच्चियाँ अगर ऐसी सर्विस में लग जायें तो बहुत नाम निकाल सकती हैं। सर्विसएबुल बच्चों की पालना तो अच्छी रीति होती ही रहती हैं, क्योंकि शिवबाबा का भण्डारा भरपूर है। जिस भण्डारे से खाया वह भण्डारा भरपूर, काल कंटक दूर।

तुम हो शिव वंशी। वह रचता है, यह रचना है। बाबुल नाम बहुत मीठा है। शिव साजन भी तो है ना। शिवबाबा की महिमा ही अलग है। निराकार अक्षर लिखने से समझते हैं कि उनका कोई आकार नहीं है। बिलवेड मोस्ट शिवबाबा है – परमप्रिय तो लिखना ही है। इस समय लड़ाई का मैदान उनका भी है तो तुम्हारा भी है। शिव शक्तियाँ नान-वायलेन्स गाई जाती हैं। परन्तु चित्रों में देवियों को भी हथियार दे हिंसा दिखा दी है। वास्तव में तुम योग अथवा याद के बल से विश्व की बादशाही लेते हो। हथियारों आदि की बात ही नहीं है। गंगा का प्रभाव बहुत है। बहुतों को साक्षात्कार भी होगा। भक्ति मार्ग में समझते हैं कि गंगा जल मिले तब उद्धार हो, इसलिए गुप्त गंगा कहते रहते हैं। कहते हैं, बाण मारा और गंगा निकली। गऊमुख से भी गंगा दिखाते हैं। तुम पूछेंगे तो कहेंगे कि गुप्त गंगा निकल रही है। त्रिवेणी पर भी सरस्वती को गुप्त दिखाया है। मनुष्यों ने तो बहुत बातें बना दी हैं। यहाँ तो एक ही बात है। सिर्फ अल्फ, बस। अल्लाह आकर बहिश्त स्थापन करते हैं। खुदा हेविन स्थापन करते हैं। ईश्वर स्वर्ग स्थापन करते हैं। वास्तव में ईश्वर तो एक है। यह तो अपनी-अपनी भाषा में भिन्न-भिन्न नाम रख दिये हैं। परन्तु यह समझते हैं कि अल्लाह से जरूर स्वर्ग की बादशाही मिलेगी। यहाँ तो बाप कहते हैं मनमनाभव। बाप को याद करने से वर्सा जरूर याद आयेगा। रचता की रचना है ही स्वर्ग। ऐसे थोड़ेही कहेंगे कि राम ने नर्क रचा। भारतवासियों को यह पता ही नहीं कि निराकार रचता कौन है? तुम जानते हो कि नर्क का रचता रावण है, जिसको जलाते हैं। रावण राज्य में भक्ति मार्ग का सैपलिंग कितना बड़ा है। रावण का रूप भी बड़ा भयंकर बनाया है। बोलते भी हैं कि रावण हमारा दुश्मन है। बाप ने अर्थ समझाया है – पेशगीर (विस्तार) बड़ा है तो रावण का शरीर भी बड़ा बनाते हैं। शिवबाबा तो बिन्दी है। परन्तु चित्र बड़ा बना दिया है। नहीं तो बिन्दी की पूजा कैसे हो। पुजारी तो बनना है ना। आत्मा के लिए तो कहते हैं – भ्रकुटी के बीच में चमकता है अज़ब सितारा। और फिर कहते हैं, आत्मा सो परमात्मा। तो फिर हजार सूर्य से ज्यादा तेज कैसे होगा? आत्मा का वर्णन तो करते हैं लेकिन समझते नहीं। अगर परमात्मा हजार सूर्य से तेज हो, तो हर एक में प्रवेश कैसे करे? कितनी अयथार्थ बातें हैं, जो सुनकर क्या बन पड़े हैं। कहते हैं आत्मा सो परमात्मा तो बाप का रूप भी ऐसा होगा ना, परन्तु पूजा के लिए बड़ा बनाया है। पत्थर के कितने बड़े-बड़े चित्र बनाते हैं। जैसे ग़ुफा में बड़े-बड़े पाण्डव दिखाये हैं, जानते कुछ भी नहीं। यह है पढ़ाई। धन्धा और पढ़ाई अलग-अलग है। बाबा पढ़ाते भी हैं और धन्धा भी सिखाते हैं। बोर्ड में भी पहले बाप की महिमा होनी चाहिए। बाप की फुल महिमा लिखनी है। यह बातें तुम बच्चों की भी बुद्धि में नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार आती हैं इसलिए महारथी, घोड़ेसवार कहा जाता है। हथियार आदि की कोई बात नहीं है। बाप बुद्धि का ताला खोल देते हैं। यह गोदरेज का ताला कोई खोल न सके। बाप के पास मिलने आते हैं तो बाबा बच्चों से पूछते हैं कि आगे कब मिले हो? इस जगह पर, इस दिन कब मिले हो? तो बच्चे कहते हाँ बाबा, 5 हजार वर्ष पहले मिले हैं। अब यह बातें ऐसे कोई पूछ न सके। कितनी गुह्य समझने की बातें हैं। कितनी ज्ञान की युक्तियाँ बाबा समझाते हैं। परन्तु धारणा नम्बरवार होती है। शिवबाबा की महिमा अलग है, ब्रह्मा-विष्णु-शंकर की महिमा अलग है। हर एक का पार्ट अलग-अलग है। एक न मिले दूसरे से। यह अनादि ड्रामा है। वही फिर रिपीट होगा। अभी तुम्हारी बुद्धि में बैठा हुआ है कि हम कैसे मूलवतन में जाते हैं फिर आते हैं पार्ट बजाने के लिए। जाते हैं वाया सूक्ष्मवतन। आने समय सूक्ष्मवतन नहीं है। सूक्ष्मवतन का साक्षात्कार कभी किसी को होता ही नहीं। सूक्ष्मवतन का साक्षात्कार करने के लिए कोई तपस्या नहीं करते हैं क्योंकि उनको कोई जानते नहीं हैं। सूक्ष्मवतन का कोई भगत थोड़ेही होगा। सूक्ष्मवतन अभी रचते हैं वाया सूक्ष्मवतन जाए फिर नई दुनिया में आयेंगे। इस समय तुम वहाँ आते-जाते रहते हो। तुम्हारी सगाई हुई है, यह पियर घर है। विष्णु को पिता नहीं कहेंगे। वह है ससुरघर। जब कन्या ससुरघर जाती है तो पुराने कपड़े सब छोड़ जाती है। तुम पुरानी दुनिया को ही छोड़ देते हो। तुम्हारे और उनके वनवाह में कितना फर्क है। तुमको भी बहुत अनासक्त रहना चाहिए। देह-अभिमान तोडना है। ऊंची साड़ी पहनेंगी तो झट देह-अभिमान आ जायेगा। मैं आत्मा हूँ, यह भूल जायेगा। इस समय तुम हो ही वनवाह में। वनवाह और वानप्रस्थ एक ही बात है। शरीर ही छोड़ना है तो साड़ी नहीं छोड़ेंगी क्या! हल्की साड़ी मिलती है तो दिल ही छोटी हो जाती है। इसमें तो खुशी होनी चाहिए -अच्छा हुआ जो हल्का वस्त्र मिला। अच्छी चीज़ को तो सम्भालना पड़ता है। यह पहनने, खाने की छोटी-छोटी बातें भी ऊंची मंजिल पर पहुंचने में अटक डालती हैं। मंजिल बहुत बड़ी है। कथा में भी सुनाते हैं ना कि पति को कहा – यह लाठी भी छोड़ दो। बाप कहते हैं यह पुराना कपड़ा, पुरानी दुनिया सब खलास होनी है, इसलिए इस सारी दुनिया से बुद्धियोग तोड़ना है, इसको बेहद का संन्यास कहा जाता है। संन्यासियों ने तो हद का संन्यास किया है अब तो फिर वे अन्दर आ गये हैं। आगे तो उन्हों में बहुत ताकत थी। उतरने वालों की महिमा क्या हो सकती है। नई-नई आत्मायें भी पिछाड़ी तक आती रहती हैं पार्ट बजाने, उनमें क्या ताकत होगी। तुम तो पूरे 84 जन्म लेते हो। यह सब समझने के लिए कितनी अच्छी बुद्धि चाहिए। सर्विसएबुल बच्चे सर्विस में उछलते रहेंगे। ज्ञान सागर के बच्चे ऐसे भाषण करें जैसे बाबा उछलता है, इसमें फँक नहीं होना है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि से बेहद का संन्यास करना है। वापस घर जाने का समय है इसलिए पुरानी दुनिया और पुराने शरीर से अनासक्त रहना है।

2) ड्रामा की हर सीन को देखते हुए सदा हर्षित रहना है।

वरदान:- अपने हाइएस्ट पोजीशन में स्थित रहकर हर संकल्प, बोल और कर्म करने वाले सम्पूर्ण निर्विकारी भव
सम्पूर्ण निर्विकारी अर्थात् किसी भी परसेन्ट में कोई भी विकार तरफ आकर्षण न जाए, कभी उनके वशीभूत न हों। हाइएस्ट पोजीशन वाली आत्मायें कोई साधारण संकल्प भी नहीं कर सकती। तो जब कोई भी संकल्प वा कर्म करते हो तो चेक करो कि जैसा ऊंचा नाम वैसा ऊंचा काम है? अगर नाम ऊंचा, काम नीचा तो नाम बदनाम करते हो इसलिए लक्ष्य प्रमाण लक्षण धारण करो तब कहेंगे सम्पूर्ण निर्विकारी अर्थात् होलीएस्ट आत्मा।
स्लोगन:- कर्म करते करन-करावनहार बाप की स्मृति रहे तो स्व-पुरुषार्थ और योग का बैलेन्स ठीक रहेगा।

TODAY MURLI 21 APRIL 2021 DAILY MURLI (English)

21/04/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have now heard true things from the true Father and come into the light. Your duty is to remove everyone from darkness and bring them into the light.
Question: When you children give knowledge to anyone, what should you definitely remember?
Answer: Constantly continue to make your mouth say “Baba, Baba”, because by your doing this, any consciousness of “mine” will finish. The inheritance will also be remembered. When “Baba” is said, the notion of omnipresence is finished. If someone says that God is omnipresent, ask him: How can the Father be in everyone?
Song: People of today are in darkness.

Om shanti. What did the children say and to whom did they call out “O Ocean of Knowledge! O Sun of Knowledge! Baba”? God is called “Baba”. God is the Father and so all of you are children. The children say, “We have now fallen into darkness. Take us into the light.” By your saying “Baba” it proves that you are calling out to the Father. When you say “Baba” you experience love because the inheritance is received from the Father. By simply saying “Ishwar” or “Prabhu”, there isn’t that sweetness of the Father’s inheritance. By saying “Baba”, you remember your inheritance. You call out, “Baba, we have fallen into darkness! Come and ignite our lamps with knowledge!” This is because the lights of souls have gone out. When a person dies, people keep a lamp alight for 12 days. Someone stays up all night to make sure the lamp doesn’t go out. The Father explains: You people of Bharat were in the light, that is, in the day, but you are now in the night. It is day for 12 hours and night for 12 hours. That is a limited aspect. This day and night are unlimited. It is called the day of Brahma, the golden and silver ages, and the night of Brahma, the copper and iron ages. There is darkness at night in which people continue to stumble around. They wander around in all directions searching for God, but they cannot attain God. They perform devotion in order to attain God. Devotion begins in the copper age, that is, when the kingdom of Ravan begins. A story has also been made up about Dashera (the burning of Ravan). They also make up stories with the imagination of their minds: for instance, they create films and plays etc. The Shrimad Bhagawad Gita is the truth. The Supreme Soul came and taught you children Raja Yoga and gave you the kingdom. Then they made up stories on the path of devotion. Vyas wrote the Gita, that is, he made up a story. You children are now listening to the true things from the Father. You should always continue to say “Baba, Baba”. The Supreme Soul is our Baba. He is the Creator of the new world and we should therefore definitely receive the inheritance of heaven from Him. While experiencing 84 births we came into hell. The Father explains: Children, you people of Bharat belonged to the sun and moon dynasties. When you were the masters of the world, there were no other religions. That was called heaven, the land of Krishna. Here, it is the land of devils. BapDada reminds you that it used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. Only the Father, not the Ganges, is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Peace and the Purifier. All the brides have one God who is the Bridegroom. People don’t know this. That is why they become confused when they are asked who the Father of all souls is. They reply: We don’t know. Oh souls! But how can you not know your Father? They speak of God, the Father, but when you ask them what His name and form are or whether they recognise Him, they say that He is omnipresent. Can a father of children ever be omnipresent? People have become so senseless by following the devilish dictates of Ravan. Body consciousness is the number one vice. They don’t have the faith that they are souls. They say: I am so-and-so. That refers to the body. In fact, they don’t know who they really are. “I am a judge, I am this.” They continue to say “I”, but that it wrong. “I” and “mine” are two distinct things. Souls are imperishable and bodies are perishable. A name is given to each body. Souls are not given names. The Father says: My name is Shiva. People even celebrate the birthday of Shiva. How can the incorporeal One have a birthday? No one knows whom He enters. The name of all souls is soul. The name of the Supreme Father is Shiva and all the rest are saligrams. All souls are children and Shiva is the Father of all souls. He is the unlimited Father. Everyone calls out to Him: Come and purify us! We are experiencing sorrow! Souls call out. All the children remember Him when they are in sorrow, whereas when those same children are in happiness, none of them remembers Him. It is Ravan that has made you unhappy. The Father explains: That Ravan is your old enemy. This is the game of the drama that is created. Therefore, all are now in darkness. This is why they call out: O Sun of Knowledge, come and take us into the light! When Bharat was the land of happiness, no one used to call out. There was nothing lacking there. Here, they continue to cry out: O Bestower of Peace! The Father comes and explains that peace is your original religion and the garland around your neck. Souls are residents of the land of peace. You go from the land of peace to the land of happiness where there is nothing but happiness. You don’t have to cry out in distress. It is only when people are in sorrow that they cry out: Have mercy! Baba, Remover of Sorrow and Bestower of Happiness, come! Shiv Baba, sweet Baba, come once again! He definitely comes. That is why people celebrate the birthday of Shiva. Shri Krishna is a prince of heaven. His birthday is also celebrated, but no one knows when Krishna came. Radhe and Krishna become Lakshmi and Narayan when they marry. No one knows this. Human beings continue to call out: O God the Father! Achcha, ask them what His name and form are and they say that He is beyond name and form! Oh! You say that He is God, the Father, and then you say that He is beyond name and form! The sky is space but it has the name ‘sky’. You say that you don’t know the name or form of the Father. Achcha, do you know yourself? Yes, I am a soul. Achcha, what is the name and form of a soul? They say that each soul is the Supreme Soul. A soul cannot be beyond name and form. A soul is a point, like a star that resides in the centre of the forehead. Such a tiny soul has a part of 84 births recorded in him. These matters have to be understood. This is why the furnace of seven days is remembered. Ravan’s kingdom began in the copper age and it is ever since then that the vices have existed. You have continued to come down the ladder. Everyone is now eclipsed and has become ugly. That is why they call out: O Sun of Knowledge, come! Come and take us into the light! It is said: When the Satguru gives the ointment of knowledge, ignorance (darkness) is dispelled. The intellect remembers the Father. It isn’t said: When the guru gives the ointment. There are many gurus, but none of them has knowledge; they are not remembered. Only the one Father is the Ocean of Knowledge, the Purifier and the Bestower of Salvation for All. Therefore, how could anyone else give knowledge? Sages say that there are many paths to meet God, that to study the scriptures, to hold sacrificial fires, to do tapasya etc. are all paths to meet God. However, how could impure ones go to the pure world? The Father says: I Myself have to come. There is only one God. Brahma, Vishnu and Shankar are deities; they cannot be called God. Their Father is Shiva. Since people are here, the Father of People has to exist here, does he not? The name that is written is ‘Prajapita Brahma Kumaris Institution. Therefore, you are the children. There are many Brahma Kumars and Kumaris. The inheritance is received from Shiva, not Brahma. The inheritance is received from Dada (Grandfather). He sits here and makes you worthy of going to heaven through Brahma. He adopts you children through Brahma. Children say: Baba, I belong to You. I claim my inheritance from You. The land of Vishnu is established through Brahma. Shiv Baba teaches you Raja Yoga. The Gita is the elevated directions from God. There is only one God, the incorporeal One. The Father explains: You children have taken 84 births. Souls have remained separated from the Supreme Soul for a long time. It is the people of Bharat who have been separated for a long time. It wasn’t those of other religions. You are the ones who became separated first. You separated from the Father and came here to play your parts. Baba says: O souls, now remember Me, your Father! This is the pilgrimage of remembrance, the fire of yoga. The burden of sins on your head will be burnt away in this fire of yoga. O sweet children, from being in the golden age you have come into the iron ageNow, remember Me! This is something for your intellects to do. Forget your bodies and all your bodily relations and constantly remember Me alone. You are souls and those are your bodies. It is the soul that says, “I, I”. Ravan has made you impure. This play is predestined. There is the pure Bharat and the impure Bharat. When you become impure, you call out to the Father that you want the kingdom of Rama. They say this but they don’t understand the meaning of it. Only the one Father is the Ocean of Knowledge who gives you knowledge. Only the Father comes and gives you the inheritance in a second. You now belong to the Father in order to claim your inheritance of the sun and moon dynasties. You are immortal in the golden and silver ages; you won’t say there that so-and-so has died. There is no untimely death in the golden age. You conquer death and there is no mention of sorrow. That is called the land of happiness. The Father says: I give you the sovereignty of heaven. There are many facilities for comfort there. People on the path of devotion built such temples. Even at that time they had so much wealth. Look how prosperous Bharat was! All the rest of the souls were in the incorporeal world. You children have come to know that the highest-on-high Baba is now establishing heaven. The Highest on High is Shiv Baba, and then there are Brahma, Vishnu and Shankar, residents of the subtle region. Then there is this world. You children receive salvation through knowledge. It is remembered: Knowledge, devotion and disinterest. There is disinterest in the old world because you are to receive the sovereignty of the golden age. The Father says: Children, now constantly remember Me alone! By remembering Me, you will come to Me. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. The burden of sins on your head will be burnt away with the fire of yoga. Remove your body and all bodily relations from your intellect and remember the one Father.
  2. Instead of calling out or crying out in distress, remain stable in your original religion of peace. Peace is the garland around your neck. Don’t use the words “I” and “mine” in body consciousness. Have the faith that you are a soul.
Blessing: May you have a right to the highest status and with your elevated stage, make Maya bow down in front of you.
Great souls never bow down in front of anyone, but everyone bows down in front of them. In the same way, none of you most elevated souls who have been selected by the Father, can let yourself bow down anywhere, in any situation, or to any of the various attractive forms of Maya. When you now remain stable in a stage that makes others bow down, you will then claim a right to the highest status. In the golden age, the subjects will bow down with respect in front of such souls and, in the copper age, devotees will bow down to your memorials.
Slogan: Let there be a good balance between karma and yoga and you will then be called a karma yogi.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 21 APRIL 2021 : AAJ KI MURLI

21-04-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम अभी सत्य बाप द्वारा सच्ची बातें सुन सोझरे में आये हो तो तुम्हारा कर्तव्य है सबको अन्धियारे से निकाल सोझरे में लाना”
प्रश्नः- जब तुम बच्चे किसी को ज्ञान सुनाते हो तो कौन सी एक बात जरूर याद रखो?
उत्तर:- मुख से बार-बार बाबा बाबा कहते रहो, इससे अपना-पन समाप्त हो जायेगा। वर्सा भी याद रहेगा। बाबा कहने से सर्वव्यापी का ज्ञान पहले से ही खत्म हो जाता है। अगर कोई कहे भगवान सर्वव्यापी है तो बोलो बाप सबके अन्दर कैसे हो सकता है!
गीत:- आज अन्धेरे में है इंसान…

ओम् शान्ति। बच्चों ने क्या कहा और किसको पुकारा? हे ज्ञान के सागर अथवा हे ज्ञान सूर्य बाबा…. भगवान को बाबा कहा जाता है ना। भगवान बाप है तो तुम सब बच्चे हो। बच्चे कहते हैं हम अन्धेरे में आकर पड़े हैं। आप हमें सोझरे में ले जाओ। बाबा कहने से सिद्ध होता है कि बाप को पुकारते हैं। बाबा अक्षर कहने से लव आ जाता है क्योंकि बाप से वर्सा लिया जाता है। सिर्फ ईश्वर वा प्रभु कहने से बाप के वर्से की रसना नहीं आती। बाबा कहने से वर्सा याद आ जाता है। तुम पुकारते हो बाबा हम अन्धेरे में आकर पड़े हैं, आप अभी फिर ज्ञान से हमारा दीपक जगाओ क्योंकि आत्माओं का दीपक बुझा हुआ है। मनुष्य मरते हैं तो 12 दिन दीवा जगाते हैं। एक घृत डालने के लिए बैठा रहता है कि कहाँ दीवा बुझ न जाये।

बाप समझाते हैं – तुम भारतवासी सोझरे में अर्थात् दिन में थे। अब रात में हो। 12 घण्टा दिन, 12 घण्टा रात। वह है हद की बात। यह तो बेहद का दिन और बेहद की रात है, जिसको कहा जाता है ब्रह्मा का दिन – सतयुग त्रेता, ब्रह्मा की रात – द्वापर कलियुग। रात में अन्धियारा होता है। मनुष्य ठोकरें खाते रहते हैं। भगवान को ढूँढने के लिए चारों तरफ फेरे लगाते हैं, परन्तु परमात्मा को पा नहीं सकते। परमात्मा को पाने के लिए ही भक्ति करते हैं। द्वापर से भक्ति शुरू होती है अर्थात् रावण राज्य शुरू होता है। दशहरे की भी एक स्टोरी बनाई है। स्टोरी हमेशा मनोमय बनाते हैं, जैसे बाइसकोप, नाटक आदि बनाते हैं। श्रीमद् भगवत गीता ही है सच्ची। परमात्मा ने बच्चों को राजयोग सिखाया, राजाई दी। फिर भक्तिमार्ग में बैठकर स्टोरी बनाते हैं। व्यास ने गीता बनाई अर्थात् स्टोरी बनाई। सच्ची बात तो बाप द्वारा तुम अभी सुन रहे हो। हमेशा बाबा-बाबा कहना चाहिए। परमात्मा हमारा बाबा है, नई दुनिया का रचयिता है। तो जरूर उनसे हमको स्वर्ग का वर्सा मिलना चाहिए। अभी तो 84 जन्म भोग हम नर्क में आकर पड़े हैं। बाप समझाते हैं बच्चों, तुम भारतवासी सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी थे, विश्व के मालिक थे, दूसरा कोई धर्म नहीं था, उसको स्वर्ग अथवा कृष्णपुरी कहा जाता है। यहाँ है कंसपुरी। बापदादा याद दिलाते हैं, लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। बाप ही ज्ञान का सागर, शान्ति का सागर पतित-पावन है, न कि पानी की गंगा। सब ब्राइड्स का एक ही भगवान ब्राइडग्रूम है – यह मनुष्य नहीं जानते, इसलिए पूछा जाता है – आत्मा का बाप कौन है? तो मूँझ पड़ते हैं। कहते हैं हम नहीं जानते। अरे आत्मा, तुम अपने बाप को नहीं जानती हो? कहते हैं गॉड फादर, फिर पूछा जाता हैöउनका नाम रूप क्या है? गॉड को पहचानते हो? तो कह देते हैं सर्वव्यापी है। अरे बच्चों का बाप कब सर्वव्यापी होता है क्या? रावण की आसुरी मत पर कितने बेसमझ बन जाते हैं। देह-अभिमान है नम्बरवन। अपने को आत्मा निश्चय नहीं करते। कह देते मैं फलाना हूँ। यह तो हो गई शरीर की बात। असल में स्वयं कौन हैं – यह नहीं जानते। मैं जज हूँ, मैं यह हूँ …. ‘मैं’ ‘मैं’ कहते रहते हैं, परन्तु यह रांग है। मैं और मेरा यह दो चीज़ें हैं। आत्मा अविनाशी है, शरीर विनाशी है। नाम शरीर का पड़ता है। आत्मा का कोई नाम नहीं रखा जाता है। बाप कहते हैं – मेरा नाम शिव ही है। शिव जयन्ती भी मनाते हैं। अब निराकार की जयन्ती कैसे हो सकती? वह किसमें आते हैं, यह किसको पता नहीं। सब आत्माओं का नाम आत्मा ही है। परमात्मा का नाम है शिव। बाकी सब हैं सालिग्राम। आत्मायें बच्चे हैं। एक शिव सब आत्माओं का बाप है। वह है बेहद का बाप। उनको सब पुकारते हैं कि आकर हमें पावन बनाओ। हम दु:खी हैं। आत्मा पुकारती है, दु:ख में सब बच्चे याद करते हैं और फिर यही बच्चे सुख में रहते हैं तो कोई भी याद नहीं करते। दु:खी बनाया है रावण ने।

बाप समझाते हैं – यह रावण तुम्हारा पुराना दुश्मन है। यह भी ड्रामा का खेल बना हुआ है। तो अभी सब अन्धियारे में हैं इसलिए पुकारते हैं हे ज्ञान सूर्य आओ, हमको सोझरे में ले जाओ। भारत सुखधाम था तो कोई पुकारते नहीं थे। कोई अप्राप्त वस्तु नहीं थी। यहाँ तो चिल्लाते रहते हैं, हे शान्ति देवा। बाप आकर समझाते हैं – शान्ति तो तुम्हारा स्वधर्म है। गले का हार है। आत्मा शान्तिधाम की रहवासी है। शान्तिधाम से फिर सुखधाम में जाती है। वहाँ तो सुख ही सुख है। तुमको चिल्लाना नहीं होता है। दु:ख में ही चिल्लाते हैं – रहम करो, दु:ख हर्ता सुख कर्ता बाबा आओ। शिवबाबा, मीठा बाबा फिर से आओ। आते जरूर हैं तब तो शिवजयन्ती मनाते हैं। श्रीकृष्ण है स्वर्ग का प्रिन्स। उनकी भी जयन्ती मनाते हैं। परन्तु कृष्ण कब आया, यह किसको पता नहीं। राधे-कृष्ण ही स्वयंवर के बाद लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। यह कोई भी नहीं जानते। मनुष्य ही पुकारते रहते हैं – ओ गॉड फादर… अच्छा उनका नाम-रूप क्या है तो कह देते हैं नाम-रूप से न्यारा है। अरे, तुम कहते हो गॉड फादर फिर नाम-रूप से न्यारा कह देते हो। आकाश पोलार है, उनका भी नाम है आकाश। तुम कहते हो हम बाप के नाम-रूप आदि को नहीं जानते, अच्छा अपने को जानते हो? हाँ हम आत्मा हैं। अच्छा आत्मा का नाम-रूप बताओ। फिर कह देते आत्मा सो परमात्मा है। आत्मा नाम-रूप से न्यारी तो हो नहीं सकती। आत्मा एक बिन्दी स्टार मिसल है। भ्रकुटी के बीच में रहती है। जिस छोटी सी आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट नूँधा हुआ है। यह बहुत समझने की बात है इसलिए 7 रोज़ भट्ठी गाई हुई है। द्वापर से रावणराज्य शुरू हुआ है तब से विकारों की प्रवेशता हुई है। सीढ़ी उतरते आये हैं। अब सबको ग्रहण लगा हुआ है, काले हो गये हैं इसलिए पुकारते हैं हे ज्ञान सूर्य आओ। आकर हमको सोझरे में ले जाओ। ज्ञान अंजन सतगुरू दिया, अज्ञान अंधेर विनाश… बुद्धि में बाप आता है। ऐसे नहीं ज्ञान अंजन गुरू दिया.. गुरू तो ढेर हैं, उनमें ज्ञान कहाँ है। उनका थोड़ेही गायन है। ज्ञान-सागर, पतित-पावन, सर्व का सद्गति दाता एक ही बाप है। फिर दूसरा कोई ज्ञान दे कैसे सकता। साधू लोग कह देते हैं भगवान से मिलने के अनेक रास्ते हैं। शास्त्र पढ़ना, यज्ञ, तप आदि करना – यह सब भगवान से मिलने के रास्ते हैं लेकिन पतित फिर पावन दुनिया में जा कैसे सकते हैं। बाप कहते हैं – मैं खुद आता हूँ। भगवान तो एक ही है ब्रह्मा-विष्णु-शंकर भी देवता हैं, उन्हें भगवान नहीं कहेंगे। उनका भी बाप शिव है। प्रजापिता ब्रह्मा तो यहाँ ही होगा ना। प्रजा यहाँ है। नाम भी लिखा हुआ है प्रजापिता ब्रह्माकुमारी इन्स्टीट्यूशन। तो बच्चे ठहरे। ढेर बी.के. हैं। वर्सा शिव से मिलता है, न कि ब्रह्मा से। वर्सा दादे से मिलता है। ब्रह्मा द्वारा बैठकर स्वर्ग में जाने लायक बनाते हैं। ब्रह्मा द्वारा बच्चों को एडाप्ट करते हैं। बच्चे भी कहते हैं बाबा हम आपके ही हैं, आपसे वर्सा लेते हैं। ब्रह्मा द्वारा स्थापना होती है विष्णुपुरी की। शिवबाबा राजयोग सिखाते हैं। श्रीमत अथवा श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ भगवान की गीता है। भगवान एक ही निराकार है। बाप समझाते हैं – तुम बच्चों ने 84 जन्म लिए हैं। आत्मा परमात्मा अलग रहे बहुकाल.. बहुकाल से अलग तो भारतवासी ही थे। दूसरा कोई धर्म नहीं था। वही पहले-पहले बिछुडे हैं। बाप से बिछुड़कर यहाँ पार्ट बजाने आये हैं। बाबा कहते हैं – हे आत्मायें अब मुझ बाप को याद करो। यह है याद की यात्रा अथवा योग अग्नि। तुम्हारे सिर पर जो पापों का बोझ है, वह इस योग अग्नि से भस्म होगा। हे मीठे बच्चे, तुम गोल्डन एज़ से आइरन एज़ में आ गये हो। अब मुझे याद करो। यह बुद्धि का काम है ना। देह सहित देह के सब सम्बन्ध छोड़ मामेकम् याद करो। तुम आत्मा हो ना। यह तुम्हारा शरीर है। मैं, मैं आत्मा करती है। तुमको रावण ने पतित बनाया है। यह खेल बना हुआ है। पावन भारत और पतित भारत। जब पतित बनते हैं तो बाप को पुकारते हैं। रामराज्य चाहिए। कहते भी हैं, परन्तु अर्थ को नहीं समझते। ज्ञान देने वाला ज्ञान का सागर तो एक ही बाप है। बाप ही आकर सेकण्ड में वर्सा देते हैं। अभी तुम बाप के बने हो। बाप से सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी वर्सा लेने। फिर सतयुग, त्रेता में तुम अमर बन जाते हो। वहाँ ऐसे नहीं कहेंगे कि फलाना मर गया। सतयुग में अकाले मृत्यु होती नहीं। तुम काल पर जीत पाते हो। दु:ख का नाम नहीं रहता। उनको कहते हैं सुखधाम। बाप कहते हैं हम तो तुमको स्वर्ग की बादशाही देते हैं। वहाँ तो बहुत वैभव हैं। भक्तिमार्ग में मन्दिर बनाये हैं उस समय भी कितना धन था। भारत क्या था! बाकी और सब आत्मायें निराकारी दुनिया में थी। बच्चे जान गये हैं – ऊंच ते ऊंच बाबा अब स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। ऊंच ते ऊंच है शिवबाबा, फिर है ब्रह्मा-विष्णु-शंकर सूक्ष्मवतन वासी। फिर यह दुनिया।

ज्ञान से ही तुम बच्चों की सद्गति होती है। गाया भी जाता हैöज्ञान, भक्ति और वैराग्य। पुरानी दुनिया से वैराग्य आता है, क्योंकि सतयुग की बादशाही मिलती है। अब बाप कहते हैं – बच्चे, मामेकम् याद करो। मेरे को याद करते तुम मेरे पास आ जायेंगे। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सिर पर जो पापों का बोझ है उसे योग अग्नि से भस्म करना है। बुद्धि से देह सहित देह के सब सम्बन्ध छोड़ एक बाप को याद करना है।

2) पुकारने वा चिल्लाने के बजाए अपने शान्त स्वधर्म में स्थित रहना है, शान्ति गले का हार है। देह-अभिमान में आकर “मैं” और “मेरा” शब्द नहीं कहना है, स्वयं को आत्मा निश्चय करना है।

वरदान:- अपनी श्रेष्ठ स्थिति द्वारा माया को स्वयं के आगे झुकाने वाले हाइएस्ट पद के अधिकारी भव
जैसे महान आत्मायें कभी किसी के आगे झुकती नहीं हैं, उनके आगे सभी झुकते हैं। ऐसे आप बाप की चुनी हुई सर्वश्रेष्ठ आत्मायें कहाँ भी, कोई भी परिस्थिति में वा माया के भिन्न-भिन्न आकर्षण करने वाले रूपों में अपने को झुका नहीं सकती। जब अभी से सदा झुकाने की स्थिति में स्थित रहेंगे तब हाइएस्ट पद का अधिकार प्राप्त होगा। ऐसी आत्माओं के आगे सतयुग में प्रजा स्वमान से झुकेगी और द्वापर में आप लोगों के यादगार के आगे भक्त झुकते रहेंगे।
स्लोगन:- कर्म के समय योग का बैलेन्स ठीक हो तब कहेंगे कर्मयोगी।

TODAY MURLI 20 APRIL 2021 DAILY MURLI (English)

20/04/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to close the gates to body consciousness so that the storms of Maya stop coming.
Question: What are the signs of the children who have broad and unlimited intellects?
Answer: 1) Throughout the day they continue to have thoughts of service. 2) They cannot remain without doing service. 3) It remains in their intellects how they can surround the world and make all the impure ones pure. They continue to do the service of changing the land of sorrow into the land of happiness. 4) They continue to make many others the same as themselves.

Om shanti. The spiritual Father sits and explains to the sweetest children: Children, consider yourselves to be souls and remember Me, your Father, so that all your sorrow finishes for all time. Consider yourselves to be souls and look at everyone with the vision of brotherhood so that the vision and attitude of the body are transformed. The Father is bodiless and you souls are also bodiless. The Father only looks at souls. All are souls who are seated on their immortal thrones. You souls also have to look at others with the vision of brotherhood. This requires great effort. It is when you come into the awareness of the body that storms of Maya come. Close the gates to body consciousness and the storms of Maya will stop coming. During the whole cycle it is only at the most auspicious confluence age does the Father give you children these teachings to become soul consciousness. Sweetest long lost and found children, you know that you have stepped aside from the shores of hell and are now moving forward. This most auspicious confluence age is completely separate and between the two. Your boat is in the middle of the ocean; you are neither golden aged nor iron aged. You are the most elevated, most auspicious confluence-aged Brahmins. The confluence age is for Brahmins and Brahmins are the topknot. This is the very small age of Brahmins. This age is of just one birth; it is your age of happiness. What is the happiness of? That God is teaching us: Such students should have so much happiness. You now have the knowledge of the whole cycle in your intellects. Now we are Brahmins and then we will become deities. First, we will go home, the sweet home, and then go into the new world. Only we Brahmins are spinners of the discus of self-realisation. We are doing this somersault. Only you Brahmin children know this variety image. Your intellects churn these things throughout the day. Sweet children, this is a very lovely family of yours, and so each one of you has to become very, very lovely. The Father is sweet and so He also makes you children just as sweet. You must never become angry with anyone. Never cause sorrow for anyone through your thoughts, words or deeds. The Father never causes any sorrow for anyone. To the extent that you remember the Father, you will accordingly continue to become sweet. By having this remembrance, your boat will go across. This is the pilgrimage of remembrance. By remembering, you will go to the land of happiness via the land of peace. The Father has come to make you children constantly happy. The Father is showing you the way to chase away evil spirits: Remember Me and those evil spirits will continue to go away. Do not take away any evil spirits with you. If anyone has any evil spirits, then leave them here with Me. You say: Baba, come and remove our evil spirits and make us pure from impure. So, the Father is making you so beautiful. Both Bap and Dada together are decorating you children. It is the mother and father who decorate their children, is it not? Those are limited fathers whereas this One is the unlimited Father. Children have to act and interact with others with a lot of love. The donation of all the vices has to be given. When you make a donation, the omens are removed. There is no question of excuses etc. in this. You can conquer anyone with love. Explain with love; love is very sweet. People are able to train lions, elephants, animals with love. Those people are with vices, whereas you are now becoming deities. So, you have to imbibe divine virtues and become very, very sweet. Look at one another with the vision of brotherhood or of brother and sister. A soul must never cause sorrow for another soul. The Father says: Sweet children, I have come to give you children your fortune of the kingdom of heaven. Now, take whatever you want from Me. I have come to make you into double crowned masters of the world, but you have to make effort for this. I will not place a crown on anyone. You have to give yourself the tilak of the kingdom through your own efforts. The Father shows you the way to make effort. This is the way you can make yourself into a doublecrowned master. Pay full attention to the study. Never stop studying. If, for any reason you get upset and stop studying you will incur a lot of loss. Continue to look at your profit and loss. You are students of the Godly University and are studying with God, the Father, to become worthy-of-worship deities. So, you have to become such regular studentsStudent life is the best! To the extent that you study, teach others and improve your manners, so you will become the best. Sweet children, it is now your return journey. Just as you have continued to come down from the golden age through the silver, copper and iron ages, similarly, you now have to go up from the iron age to the golden age. When you reach the silver age, the mischief of the physical organs will finish. Therefore, however much you souls remember the Father, so the rust of the rajo and tamo stages will accordingly continue to be removed, and however much rust continues to be removed, so the attraction to the Father, the Magnet, will accordingly continue to increase. If some of you souls are not being attracted, you are definitely covered with rust. When the rust has been completely removed and you souls have become pure gold, that is the karmateet stage. While living at home with your families, you have to live like a lotus. The Father says: Sweet children, look after your households and also do everything for the livelihood of your bodies. Together with that, continue to study this education. It is remembered: Let your hands do the work and let your heart be with your Beloved. While doing all of your work, remember the Father, the Beloved. You are lovers for half the cycle. When they do intense devotion, they remember Krishna with so much love. That is intense devotion, unshakeable devotion. They have unshakeable remembrance of Krishna but no one receives liberation by doing that. This knowledge is to have constant remembrance. The Father says: Remember Me, the Purifier Father, and your sins will be absolved, but Maya is also very strong; she doesn’t leave anyone alone. Instead of repeatedly being defeated by Maya, it is better to look down and repent. The Father is giving you sweet children elevated directions in order for you to become elevated. When Baba sees that some children are not making that much effort, He feels mercy. If you do not practise this now, there will have to be a lot of punishment and you will continue to receive a status worth a few pennies every cycle. The main thing the Father explains to you sweet children is: Become soul conscious! Forget all your relations of bodies, including your own body, and constantly remember Me alone! You definitely have to become pure. For as long as a kumari is pure, everyone bows down to her. As soon as she gets married, she becomes a worshipper and she has to bow her head in front of everyone. When a kumari is at her parent’s home, she doesn’t remember so many relationships. After marriage, the relationships of the body increase, and attachment to her husband and children then continues to increase. She also then remembers her mother-in-law and father-in-law. First, there is attachment to just the mother and father. Here, all of those relationships have to be forgotten because this One is the only true Mother and Father. This is the Godly relationship. It is remembered: You are the Mother, You are the Father… This Mother and Father makes you into the masters of the world and the Father therefore says: Remember Me, your unlimited Father, constantly and do not have any attachment to bodily beings. A woman remembers her iron-aged husband so much, and yet he makes her fall in the gutter. This unlimited Father takes you to heaven. While remembering such a sweet Father with a lot of love, continue to spin the discus of self-realisation. It is with the power of this remembrance that you souls will become pure and become the masters of heaven. As soon as you hear the name heaven, your hearts become happy. Those who have constant remembrance and continue to inspire others to have remembrance will claim a high status. By making this effort, you will make that stage firm by the end. This world is old and the bodies are also old; all the relations of bodies including the bodies themselves are old. Now, remove your intellects yoga away from all of them and connect it to the one Father alone, so that you only remember that one Father in the final moments. If you remember any other relations, you will remember them at the end and your status will be destroyed. Those who have remembrance of the unlimited Father at the end will become Narayan from ordinary humans. When you have remembrance of the Father, Shivalaya is not far away. Sweetest, beloved, long-lost and now-found, children, you come to the unlimited Father to refresh yourselves because you children know that you receive the unlimited sovereignty of the world from the unlimited Father. This must never be forgotten. If this is always remembered, you children can then have limitless happiness. While walking and moving around, repeatedly continue to look at your badge; let it cling to your heart. Oho! I am becoming this through God’s shrimat! While looking at the badge, continue to love Him. Continue to say, “Baba, Baba!” and you will constantly be aware that you are becoming this through the Father. The Father’s shrimat must be followed, must it not? You sweet children need to have broad and unlimited intellects. Throughout the day, continue to have thoughts of service. Baba wants the children who cannot remain without doing service. You children have to surround the whole world, that is, you have to make the impure world pure. The whole world has to be changed from the land of sorrow to the land of happiness. A teacher loves to teach. You have now also become very high teachers. The better the teacher, the more he makes others the same as himself and he would not get tired. A lot of happiness is experienced in doing Godly service. You receive the Father’s help. This is a huge, unlimited business; businessmen become wealthy. They are the ones who have a lot of enthusiasm on this path of knowledge. The Father is the unlimited Businessman. The deal is first class, but you have to have a lot of courage for this. New children can go ahead of the older ones in making effort. Each one’s fortune is individual, and so each one has to make individual effort. You have to do your full checking. Those who carry out such checking engage themselves in making effort day and night. They would say: “Why should we waste our time? As much as possible, we will use our time in a worthwhile way.” They make a firm promise to themselves: I will never forget the Father. I will definitely claim a scholarship. Such children then also receive help. You will see such new effort-making children. You will continue to have visions. Whatever happened in the beginning, you will see that at the end. As you come closer, you will continue to dance in happiness. On the other side, unnecessary bloodshed will also continue. The Godly race of you children is taking place. As you continue to run ahead, the closer the scenes of the new world will come to you and your happiness will continue to increase. Those who are not able to watch the scenes close up will not have that happiness. There now has to be disinterest in the iron-aged world and a lot of love for the new golden-aged world. If you remember Shiv Baba, you will also remember the inheritance of heaven. If you remember the inheritance of heaven, then Shiv Baba will also be remembered. You children know that you are now to go to heaven: your feet are towards hell and your heads are towards heaven. It is now the age of retirement for all, young and old. Baba always has this intoxication: Oho! I will go and become this little Krishna, for whom gifts are sent in advance. The gopikas who have full faith are the ones who send gifts. They have the feeling of supersensuous joy. We will become deities in the land of immortality. We are the ones who became that in the previous cycle and we then took 84 rebirths. If you remember this somersault, that too is great fortune: Always maintain limitless happiness. You are receiving a huge lottery. We claimed our fortune of the kingdom 5000 years ago and will claim it again tomorrow too; it is fixed in the drama. We will take birth again, just as we did in the previous cycle and we will have the same mothers and fathers. The one who was the father of Krishna will become that again. Those who continue to have such thoughts throughout the day will remain very entertained. If you do not churn the ocean of knowledge, it means you are unhealthy. Once a cow eats food, she then chews it throughout the day; her mouth continues to chew it throughout the day. If she doesn’t use her mouth, it is understood she is not well. It is the same here. Both the unlimited Father and Dada have a lot of love for you sweetest children. He teaches you with so much love and makes you beautiful from ugly. So, the mercury of happiness of you children should rise. The mercury will rise with the pilgrimage of remembrance. The Father does lovely service every cycle. He purifies everyone, even the five elements. This is such huge unlimited service. The Father continues to teach you children with a lot of love because it is the duty of the Father and the Teacher to reform the children. Shrimat is from the Father through which you become elevated. The more you remember the Father with love, the more elevated you will become. You also have to write down in your chart whether you follow shrimat or follow your own dictates. It is only by following shrimat that you will become accurate. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Promise yourself: I will not waste any time and I will use every moment of the confluence age in a worthwhile way. I will never forget Baba. I will definitely claim the scholarship.
  2. Always remain aware that it is now your stage of retirement. Your feet are towards hell and your head is towards heaven. Remember the somersault and remain very happy. Make effort to become soul conscious.
Blessing: May you be a master purifier who transforms any impure atmosphere with your powerful attitude.
No matter what the atmosphere may be like, your powerful attitude can transform that atmosphere. Even if the atmosphere is full of vices your attitude should be viceless. Those who make impure ones pure cannot be influenced by an impure atmosphere. Be a master purifier and finish any impure or weak atmosphere with your powerful attitude. Do not create such an atmosphere by speaking about it. To speak about a weak or impure atmosphere is also a sin.
Slogan: Now, sow a seedof God’s recognition in the earth and revelation will take place.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 APRIL 2021 : AAJ KI MURLI

20-04-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम देह अभिमान का द्वार बन्द कर दो तो माया के तूफान आना बन्द हो जायेंगे”
प्रश्नः- जिन बच्चों की विशाल बुद्धि है, उनकी निशानियां सुनाओ!
उत्तर:- 1- उन्हें सारा दिन सर्विस के ही ख्यालात चलते रहेंगे। 2- वह सर्विस के बिगर रह नहीं सकते। 3- उनकी बुद्धि में रहेगा कि कैसे सारे विश्व में घेराव डाल सबको पतित से पावन बनायें। वह विश्व को दु:खधाम से सुखधाम बनाने की सेवा करते रहेंगे। 4- वह बहुतों को आप समान बनाते रहेंगे।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप मीठे-मीठे बच्चों को बैठ समझाते हैं, बच्चे अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो तो तुम्हारे सब दु:ख सदा के लिए मिट जायेंगे। अपने को आत्मा समझ सबको भाई-भाई की दृष्टि से देखो तो फिर देह की दृष्टि वृत्ति बदल जायेगी। बाप भी अशरीरी है, तुम आत्मा भी अशरीरी हो। बाप आत्माओं को ही देखते हैं, सब अकालतख्त पर विराजमान आत्मायें हैं। तुम भी आत्मा भाई-भाई की दृष्टि से देखो, इसमें बड़ी मेहनत है। देह के भान में आने से ही माया के तूफान आते हैं। यह देह-अभिमान का द्वार बन्द कर दो तो माया के तूफान आना बन्द हो जायेंगे। यह देही-अभिमानी बनने की शिक्षा सारे कल्प में इस पुरुषोत्तम संगमयुग पर बाप ही तुम बच्चों को देते हैं।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चे तुम जानते हो अभी हम नर्क का किनारा छोड़ आगे जा रहे हैं, यह पुरुषोत्तम संगमयुग बिल्कुल अलग है बीच का। बीच के दरिया में (समुद्र में) तुम्हारी बोट (नांव) है। तुम न सतयुगी हो, न कलियुगी हो। तुम हो पुरुषोत्तम संगमयुगी सर्वोत्तम ब्राह्मण। संगमयुग होता ही है ब्राह्मणों का। ब्राह्मण हैं चोटी। यह ब्राह्मणों का बहुत छोटा युग है। यह एक ही जन्म का युग होता है। यह है तुम्हारे खुशी का युग। खुशी किस बात की है? भगवान हमको पढ़ाते हैं! ऐसे स्टूडेन्ट को कितनी खुशी होगी! तुमको अब सारे चक्र का ज्ञान बुद्धि में है। अभी हम सो ब्राह्मण हैं फिर हम सो देवता बनेंगे। पहले अपने घर स्वीटहोम में जायेंगे फिर नई दुनिया में आयेंगे। हम ब्राह्मण ही स्वदर्शनचक्रधारी हैं। हम ही यह बाजोली खेलते हैं। इस विराट रूप को भी तुम ब्राह्मण बच्चे ही जानते हो, बुद्धि में सारा दिन यह बातें सुमिरण होनी चाहिए।

मीठे बच्चे तुम्हारा यह बहुत लवली परिवार है, तो तुम हर एक को बहुत-बहुत लवली होना चाहिए। बाप भी मीठा है तो बच्चों को भी ऐसा मीठा बनाते हैं। कभी किसी पर गुस्सा नहीं करना चाहिए। मन्सा वाचा कर्मणा किसी को दु:ख नहीं देना है। बाप कभी किसको दु:ख नहीं देते। जितना बाप को याद करेंगे उतना मीठा बनते जायेंगे। बस इस याद से ही बेड़ा पार है – यह है याद की यात्रा। याद करते-करते वाया शान्तिधाम सुखधाम जाना है। बाप आये ही हैं बच्चों को सदा सुखी बनाने। भूतों को भगाने की युक्ति बाप बतलाते हैं मुझे याद करो तो यह भूत निकलते जायेंगे। कोई भी भूत को साथ में नहीं ले जाओ। कोई में भूत हो तो यहाँ ही मेरे पास छोड़ जाओ। तुम कहते ही हो बाबा आकर हमारे भूतों को निकाल पतित से पावन बनाओ। तो बाप कितना गुल-गुल बनाते हैं। बाप और दादा दोनों मिलकर तुम बच्चों का श्रृंगार करते हैं। मात-पिता ही बच्चों का श्रृंगार करते हैं ना। वह हैं हद के बाप – यह है बेहद का बाप। तो बच्चों को बहुत प्यार से चलना और चलाना है। सब विकारों का दान देना चाहिए, दे दान तो छूटे ग्रहण। इसमें कोई बहाने आदि की बात नहीं। प्यार से तुम किसको भी वश कर सकते हो। प्यार से समझानी दो, प्यार बहुत मीठी चीज़ है – शेर को, हाथी को, जानवरों को भी मनुष्य प्यार से वश कर लेते हैं। वह तो फिर भी आसुरी मनुष्य हैं। तुम तो अब देवता बन रहे हो। तो दैवीगुण धारण कर बहुत-बहुत मीठा बनना है। एक दो को भाई-भाई अथवा भाई-बहन की दृष्टि से देखो। आत्मा, आत्मा को कब दु:ख नहीं दे सकती। बाप कहते हैं मीठे बच्चे मैं तुमको स्वर्ग का राज्य-भाग्य देने आया हूँ। अब तुमको जो चाहिए सो हम से लो। हम तो विश्व का मालिक डबल सिरताज तुमको बनाने आये हैं। परन्तु मेहनत तुमको करनी है। मैं किस पर ताज नहीं रखूँगा। तुमको अपने पुरुषार्थ से ही अपने को राजतिलक देना है। बाप पुरुषार्थ की युक्ति बताते हैं कि ऐसे-ऐसे विश्व का मालिक डबल सिरताज अपने को बना सकते हो। पढ़ाई पर पूरा ध्यान दो। कभी भी पढ़ाई को न छोड़ो। कोई भी कारण से रूठ-कर पढ़ाई को छोड़ दिया तो बहुत-बहुत घाटा पड़ जायेगा। घाटे और फायदे को देखते रहो। तुम ईश्वरीय युनिवर्सिटी के स्टूडेन्ट हो, ईश्वर बाप से पढ़ रहे हो, पढ़कर पूज्य देवता बन रहे हो। तो स्टूडेन्ट भी ऐसा रेग्युलर बनना चाहिए। स्टूडेन्ट लाइफ इस दी बेस्ट। जितना पढ़ेंगे पढ़ायेंगे और मैनर्स सुधारेंगे उतना दी बेस्ट बनेंगे।

मीठे बच्चे अब तुम्हारी रिटर्न जरनी है, जैसे सतयुग से त्रेता, द्वापर, कलियुग तक नीचे उतरते आये हो वैसे अब तुमको आइरन एज से ऊपर गोल्डन एज़ तक जाना है। जब सिलवर एज तक पहुंचेंगे तो फिर इन कर्मेन्द्रियों की चंचलता खत्म हो जायेगी इसलिए जितना बाप को याद करेंगे उतना तुम आत्माओं से रजो तमो की कट निकलती जायेगी और जितना कट निकलती जायेगी उतना बाप चुम्बक की तरफ कशिश बढ़ती जायेगी। कशिश नहीं होती है तो जरूर कट लगी हुई है – कट एकदम निकल प्योर सोना बन जाए वह है अन्तिम कर्मातीत अवस्था।

तुम्हें गृहस्थ व्यवहार में, प्रवृत्ति में रहते भी कमल पुष्प समान बनना है। बाप कहते हैं मीठे बच्चे घर गृहस्थ को भी सम्भालो, शरीर निर्वाह अर्थ कामकाज़ भी करो। साथ-साथ यह पढ़ाई भी पढ़ते रहो। गायन भी है हथ कार डे दिल यार दे। कामकाज करते एक माशूक बाप को याद करना है। तुम आधाकल्प के आशिक हो। नौंधा भक्ति में भी देखो कृष्ण आदि को कितना प्रेम से याद करते हैं। वह है नौंधा भक्ति, अटल भक्ति। कृष्ण की अटल याद रहती है परन्तु उससे कोई को मुक्ति नहीं मिलती। यह फिर है निरन्तर याद करने का ज्ञान। बाप कहते हैं मुझ पतित-पावन बाप को याद करो तो तुम्हारे पाप नाश हो जायेंगे, परन्तु माया भी बड़ी पहलवान है। किसको छोड़ती नहीं है। माया से बार-बार हार खाने से तो कांध नीचे कर पश्चाताप करना चाहिए। बाप मीठे बच्चों को श्रेष्ठ मत देते ही हैं श्रेष्ठ बनने के लिए। बाबा देखते हैं इतनी मेहनत बच्चे करते नहीं इसलिए बाप को तरस पड़ता है। अगर यह अभ्यास अभी नहीं करेंगे तो फिर सजायें बहुत खानी पड़ेंगी और कल्प-कल्प पाई-पैसे का पद पाते रहेंगे।

मूल बात मीठे बच्चों को बाप समझाते हैं देही-अभिमानी बनो। देह सहित देह के सभी सम्बन्धों को भूल मामेकम् याद करो, पावन भी जरूर बनना है। कुमारी जब पवित्र है तो सब उनको माथा टेकते हैं। शादी करने से फिर पुजारी बन पड़ती है। सबके आगे माथा झुकाना पड़ता है। कन्या पहले पियरघर में होती है तो इतने जास्ती सम्बन्ध याद नहीं आते। शादी के बाद देह के सम्बन्ध भी बढ़ते जाते फिर पति बच्चों में मोह बढ़ता जाता। सासू-ससुर आदि सब याद आते रहेंगे। पहले तो सिर्फ माँ-बाप में ही मोह होता है। यहाँ तो फिर उन सब सम्बन्धों को भुलाना पड़ता है क्योंकि यह एक ही तुम्हारा सच्चा-सच्चा मात-पिता है ना। यह है ईश्वरीय सम्बन्ध। गाते भी हैं त्वमेव माता च पिता त्वमेव.. यह मात पिता तो तुमको विश्व का मालिक बनाते हैं इसलिए बाप कहते हैं मुझ बेहद के बाप को निरन्तर याद करो और कोई भी देहधारी से ममत्व न रखो। स्त्री को कलियुगी पति की कितनी याद रहती है, वह तो गटर में गिराते हैं। यह बेहद का बाप तो तुमको स्वर्ग में ले जाते हैं। ऐसे मीठे बाप को बहुत प्यार से याद करते और स्वदर्शन चक्र फिराते रहो। इसी याद के बल से ही तुम्हारी आत्मा कंचन बन स्वर्ग की मालिक बन जायेगी। स्वर्ग का नाम सुनकर ही दिल खुश हो जाती है। जो निरन्तर याद करते और औरों को भी याद कराते रहेंगे वही ऊंच पद पायेंगे। यह पुरुषार्थ करते-करते अन्त में तुम्हारी वह अवस्था जम जायेगी। यह तो दुनिया भी पुरानी है, देह भी पुरानी है, देह सहित देह के सब सम्बन्ध भी पुराने हैं। उन सबसे बुद्धियोग हटाए एक बाप संग जोड़ना है, जो अन्तकाल भी उस एक बाप की ही याद रहे और कोई का सम्बन्ध याद होगा तो फिर अन्त में भी वह याद आ जायेगा और पद भ्रष्ट हो जायेगा। अन्तकाल जो बेहद बाप की याद में रहेंगे वही नर से नारायण बनेंगे। बाप की याद है तो फिर शिवालय दूर नहीं।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चे बेहद के बाप पास आते ही हैं रिफ्रेश होने के लिए क्योंकि बच्चे जानते हैं बेहद के बाप से बेहद विश्व की बादशाही मिलती है। यह कभी भूलना नहीं चाहिए। वह सदैव याद रहे तो भी बच्चों को अपार खुशी रहे। यह बैज चलते-फिरते घड़ी-घड़ी देखते रहो – एकदम हृदय से लगा दो। ओहो! भगवान की श्रीमत से हम यह बन रहे हैं। बस बैज को देख उनको प्यार करते रहो। बाबा, बाबा करते रहो तो सदैव स्मृति रहेगी। हम बाप द्वारा यह बनते हैं। बाप की श्रीमत पर चलना चाहिए ना। मीठे बच्चों की बड़ी विशाल बुद्धि चाहिए। सारा दिन सर्विस के ही ख्यालात चलते रहें। बाबा को तो वह बच्चे चाहिए जो सर्विस बिगर रह न सकें। तुम बच्चों को सारे विश्व पर घेराव डालना है अर्थात् पतित दुनिया को पावन बनाना है। सारे विश्व को दु:खधाम से सुखधाम बनाना है। टीचर को भी पढ़ाने में मज़ा आता है ना। तुम तो अब बहुत ऊंच टीचर बने हो। जितना अच्छा टीचर, वह बहुतों को आपसमान बनायेंगे, कभी थकेंगे नहीं। ईश्वरीय सर्विस में बहुत खुशी रहती है। बाप की मदद मिलती है। यह बड़ा बेहद का व्यापार भी है, व्यापारी लोग ही धनवान बनते हैं। वह इस ज्ञान मार्ग में भी जास्ती उछलते हैं। बाप भी बेहद का व्यापारी है ना। सौदा बड़ा फर्स्टक्लास है परन्तु इसमें बड़ा साहस धारण करना पड़ता है। नये-नये बच्चे पुरानों से भी पुरुषार्थ में आगे जा सकते हैं। हर एक की इन्डीविज्युअल तकदीर है, तो पुरुषार्थ भी हर एक को इन्डीविज्युअल करना है। अपनी पूरी चेकिंग करनी चाहिए। ऐसी चेकिंग करने वाले एकदम रात दिन पुरुषार्थ में लग जायेंगे, कहेंगे हम अपना टाइम वेस्ट क्यों करें। जितना हो सके टाइम सफल करें। अपने से पक्का प्रण कर देते हैं, हम बाप को कभी नहीं भूलेंगे। स्कालरशिप लेकर ही छोड़ेंगे। ऐसे बच्चों को फिर मदद भी मिलती है। ऐसे भी नये-नये पुरुषार्थी बच्चे तुम देखेंगे। साक्षात्कार करते रहेंगे। जैसे शुरू में हुआ वही फिर पिछाड़ी में देखेंगे। जितना नज़दीक होते जायेंगे उतना खुशी में नाचते रहेंगे। उधर खूनेनाहेक खेल भी चलता रहेगा।

तुम बच्चों की ईश्वरीय रेस चल रही है, जितना आगे दौड़ते जायेंगे उतना नई दुनिया के नज़ारे भी नज़दीक आते जायेंगे, खुशी बढ़ती जायेगी। जिनको नज़ारे नजदीक नहीं दिखाई पड़ते उनको खुशी भी नहीं होगी। अभी तो कलियुगी दुनिया से वैराग्य और सतयुगी नई दुनिया से बहुत प्यार होना चाहिए। शिवबाबा याद रहेगा तो स्वर्ग का वर्सा भी याद रहेगा। स्वर्ग का वर्सा याद रहेगा तो शिवबाबा भी याद रहेगा। तुम बच्चे जानते हो अभी हम स्वर्ग तरफ जा रहे हैं, पाँव नर्क तरफ हैं, सिर स्वर्ग तरफ है। अभी तो छोटे-बड़े सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। बाबा को सदैव यह नशा रहता है ओहो! हम जाकर यह बाल कृष्ण बनूँगा, जिसके लिए इनएडवान्स सौगातें भी भेजते रहते हैं। जिन्हों को पूरा निश्चय है वही गोपिकायें सौगातें भेजती हैं, उन्हें अतीन्द्रिय सुख की भासना आती है। हम ही अमरलोक में देवता बनेंगे। कल्प पहले भी हम ही बने थे फिर हमने 84 पुनर्जन्म लिए हैं। यह बाजोली याद रहे तो भी अहो सौभाग्य – सदैव अथाह खुशी में रहो, बहुत बड़ी लाटरी मिल रही है। 5000 वर्ष पहले भी हमने राज्यभाग्य पाया था फिर कल पायेंगे। ड्रामा में नूँध है। जैसे कल्प पहले जन्म लिया था वैसे ही लेंगे, वही हमारे माँ-बाप होंगे। जो कृष्ण का बाप था वही फिर बनेगा। ऐसे-ऐसे जो सारा दिन विचार करते रहेंगे तो वो बहुत रमणीकता में रहेंगे। विचार सागर मंथन नहीं करते तो गोया अनहेल्दी हैं। गऊ भोजन खाती है तो सारा दिन उगारती रहती है, मुख चलता ही रहता है। मुख न चले तो समझा जाता है बीमार है, यह भी ऐसे है।

बेहद के बाप और दादा दोनों का मीठे-मीठे बच्चों से बहुत लव है, कितना प्यार से पढ़ाते हैं। काले से गोरा बनाते हैं। तो बच्चों को भी खुशी का पारा चढ़ना चाहिए। पारा चढ़ेगा याद की यात्रा से। बाप कल्प-कल्प बहुत प्यार से लवली सर्विस करते हैं। 5 तत्वों सहित सबको पावन बनाते हैं। कितनी बड़ी बेहद की सेवा है। बाप बहुत प्यार से बच्चों को शिक्षा भी देते रहते क्योंकि बच्चों को सुधारना बाप वा टीचर का ही काम है। बाप की है श्रीमत, जिससे ही श्रेष्ठ बनेंगे। जितना प्यार से याद करेंगे उतना श्रेष्ठ बनेंगे। यह भी चार्ट में लिखना चाहिए हम श्रीमत पर चलते हैं वा अपनी मत पर चलते हैं? श्रीमत पर चलने से ही तुम एक्यूरेट बनेंगे। अच्छा –

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) अपने आप से प्रण करना है कि हम अपना टाइम वेस्ट नहीं करेंगे। संगम का हर पल सफल करेंगे। हम बाबा को कभी नहीं भूलेंगे। स्कालरशिप लेकर ही रहेंगे।

2) सदा स्मृति रहे कि अभी हमारी वानप्रस्थ अवस्था है। पांव नर्क तरफ, सिर स्वर्ग तरफ है। बाजोली को याद कर अथाह खुशी में रहना है। देही-अभिमानी बनने की मेहनत करनी है।

वरदान:- अपनी पावरफुल वृत्ति द्वारा पतित वायुमण्डल को परिवर्तन करने वाले मास्टर पतित-पावनी भव
कैसा भी वायुमण्डल हो लेकिन स्वयं की शक्तिशाली वृत्ति वायुमण्डल को बदल सकती है। वायुमण्डल विकारी हो लेकिन स्वयं की वृत्ति निर्विकारी हो। जो पतितों को पावन बनाने वाले हैं वो पतित वायुमण्डल के वशीभूत नहीं हो सकते। मास्टर पतित-पावनी बन स्वयं की पावरफुल वृत्ति से अपवित्र वा कमजोरी का वायुमण्डल मिटाओ, उसका वर्णन कर वायुमण्डल नहीं बनाओ। कमजोर वा पतित वायुमण्डल का वर्णन करना भी पाप है।
स्लोगन:- अब धरनी में परमात्म पहचान का बीज डालो तो प्रत्यक्षता होगी।
Font Resize