916108 dainik gyan murli

TODAY MURLI 19 May 2017 DAILY MURLI (English)

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli in Hindi :- Click Here

To Read Murli 18/05/2017 :- Click Here

19/05/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, churn the ocean of knowledge and prove the history and geography of Bharat and then the era of the new world and the duration of the cycle will automatically be proved.
Question: What deep concern do you children have which is different from those of other human beings?
Answer: Your deep concern is to salvage the sunken boat of the world and to relate the true story of becoming Narayan and the story of immortality to everyone so that they can all progress. Although there are big palaces and electricity etc., people do not realise that that is all false, artificialprogress. Real progress was in the golden age which the Father is now bringing about.
Song: At last the day we had been waiting for has come.

 

Om shanti. The Lord of the Poor has surely come, but there is no mention of the accurate date or time. There must be a date and time period, just as it is said that today is such-and-such a day, month and year. However, when did the Lord of the Poor come? They have not mentioned that. Lakshmi and Narayan existed at the beginning of the golden age, and so there must be their era: their kingdom existed in such and such an era. There is the era of Lakshmi and Narayan, and all the others have their own eras too. It must also be written in which era Guru Nanak took birth. Without the era being shown, you cannot know anything. Lakshmi and Narayan ruled in Bharat, so there must surely be an era for them. Their era is the era of the golden age. Lakshmi and Narayan ruled in the golden age, but from when till when did they rule? It would be said that it was 5000 years ago. There has to be a different time for the birth of the Gita. There is no difference in time between Shiva’s birth and the Gita’s birth. The time of Krishna’s birth would be different. You would have to write that the era of Lakshmi and Narayan is also the same. You have to churn the ocean of knowledge about how to explain to the public. Why don’t they show the era of Lakshmi and Narayan? They show the era of Vikram (the time of the sinful ones), but what about the era of Vikarmajeet (those who conquered sinful actions)? You children understand very well, and so you should mention the history and geography of Bharat and the era of the new world. There was the kingdom of the original, eternal deities in the new world, and you can also call it their era. If you calculate this, it is 5000 years ago. By your proving this, the duration of the cycle will automatically be proved and the thousands of years that they have mentioned will be proved wrong. The Father, the Seed of the Human World Tree, comes and explains all of these things. He knows the beginning, the middle and the end of the world. The dynasty of Lakshmi and Narayan existed 5000 years ago, then the dynasty of Rama and Sita came into existence 3750 years ago, and then their dynasty continued. Then the era of King Vikram started. Even the era of King Vikram is not accurate; there are some years missing in the middle. It should be 2500 years ago. The Islam and Buddhist religions started a little later. Their era has been shown as starting 2000 years ago. You know that you were all deities and that, after going through the cycle, you have become Brahmins. You have to explain this history and geography very clearly. From Brahmins, you once again become deities. If you understand this history and geography, you also have to understand the era. The era is also mentioned in the picture of the ladder. The era of Bharat has disappeared. They have lost the era of those who were worthy of worship. Then the era of worshippers began. They talk about the Ashok pillar (Ashok – without sorrow). In the copper age, there is no one without sorrow. The Ashok p illar lasted through the golden and silver ages for half a cycle. It is this that is praised; there is no praise of the shok pillar (with sorrow). There is nothing but sorrow here. They keep the name, Ashoka Hotel, but it is not so. For half the cycle, they call momentary happiness a time without sorrow, but there is no such thing as ashok (without sorrow). They eat meat, drink alcohol and impure things etc., and don’t understand the reason for experiencing sorrow. You understand that only those who were happy in heaven a cycle ago will listen to these things. Those who were not there will not even listen. Those who have finished doing devotion are the ones who will come and listen to some of these teachings. People will be happy to hear this knowledge. The pictures are clear and the era is mentioned. The births of Brahma and Vishnu have to be here but, as for Shankar, he exists in the subtle region. Shiva is in the incorporeal world. They do not know about the subtle region or the incorporeal world, and this is why they have combined Shiva and Shankar. Shiva is the Supreme Father, the Supreme Soul, whereas Shankar is a deity. The two cannot be combined. You children are now given so much understanding; you have such great intoxication. Day and night, the only concern should be about how to explain to others. One only explains to those who are senseless. You understand what Bharat was before and how the downfall came about. The world thinks it has progressed a great deal. Previously, they didn’t have so many big palaces or electricity. There is great progress at this time, but they don’t know that this great progress is artificial and false. True progress was in the golden age. You have to explain that they have their own concern and that your concern is different. You are happy that you are salvaging the sunken boat of the world with Baba’s knowledge. Baba is once again telling the true story of becoming Narayan and the story of immortality. On the path of devotion, people tell many stories. You understand that they are false stories that don’t bring any benefit. Even though you have been listening to the scriptures, the world has continued to become tamopradhan. You have been descending the ladder. What was the benefit? The Sikhs have a gathering where they bathe in a lake. They do not believe in the River Ganges or the River Jamuna. The Sikhs do not go to the kumbha mela, they go to their own lake. They have a special programme for that. Sometimes, they go to clean the pool. Such things don’t exist in the golden age. In the golden age, all the rivers etc., are absolutely clean. There will be no rubbish in the River Ganges or the River Jamuna. There is the difference of day and night between the water of the Ganges there and the water here. They put a lot of rubbish into it here. There (in the golden age), everything will be first-class. You children now have great happiness that your future kingdom is going to be like that. After 5000 years, we are once again establishing heaven by following shrimat. It is called heaven, Paradise, and was ruled by Lakshmi and Narayan. The land of peace and the land of nirvana are the same. You know how we reside in the land of peace. Shiv Baba is at the top, then there are Brahma, Vishnu and Shankar, then the rosary of deities. They are followed by the warriors, merchants and shudras. Souls keep coming down, numberwise, from the incorporeal tree. Those who do not come into the golden age will never come to study. Even the Hindu religion has become disunited. No one knows that the original deity religion used to exist. No one knows how or when that religion was established. You have now been given this knowledge so that you can explain it to others. These pictures are very easy to understand. You can make anyone understand when and how they claimed the kingdom and for how long they ruled. There also has to be the era of when till when Rama and Sita ruled. Later on, impure kings begin to rule. Deities are the main ones who are worshipped. In fact, all praise should be of the One who is worthy of worship. On the path of devotion, they continue to worship everyone. Each one is praised at his own time. They do not even know those whom they worship in the temples. You feel happy when you now explain to them. This is why they open centres. They know that they become deities through this knowledge. The Father came and made the poor ones wealthy. The Father comes and explains to you children, and you, in turn, explain to others in order to awaken their fortune. At this time you are listening to the Father telling the history and geography of the world. By understanding this, you come to know everything. It is the Creator of the world, the Seed, who would speak about the history and geography of the world. He is k nowledge-full. He is incorporeal Shiva. A bodily being cannot be called God, the Creator. The incorporeal One is the Father of all souls. He sits here and explains to souls: I reside in the supreme abode. I have entered this body; I too am a soul. Because I am the Seed-form and knowledge-full, I make you children understand. The question of blessings or mercy does not arise. It is not a question of temporary happiness either; others can give temporary happiness. If someone receives some benefit, the name of the person he or she received benefit from becomes famous. Your attainment is for 21 births. No one but the Father can give you this attainment. No one can make your body free from disease for 21 births. On the path of devotion, people are happy if they experience even a little happiness. Here, you receive a reward for 21 births. In spite of that, there are many who do not make effort; it is not in their fortune. Everyone is inspired to make the same effort. In other kinds of education, you have different teachers. Here, you only have one Teacher. Maybe you would sit with someone separately, but it is the same knowledge. It all depends on how much knowledge each one takes. The whole significance is merged in this one story. Baba is telling you the true story of becoming Narayan. You can tell them specific dates. There are some famous people who can relate the true story of becoming Narayan because they have memorised the whole story. You too can memorise the true story of becoming Narayan. It is very easy! First of all, the Father says: Manmanabhav! Then sit and explain the history. You can show the era of Lakshmi and Narayan. Come, let us explain to you how the Father comes at the confluence age. He enters the body of Brahma and explains. To whom? To those who are the mouth-born creation of Brahma, who then become deities. It is the story of 84 births, of becoming deities from Brahmins. This is the full knowledge which you must listen to and then repeat. It will then enter your intellects that you were deities and that this is how you came into the cycle. This is the true story of becoming Narayan. How easy it is! How did we claim the kingdom and how did we lose it? For how long did we rule? There was the clan of Lakshmi and Narayan and their dynasty. There were the clans of the sun dynasty and the moon dynasty. The Father comes now at the confluence age, and makes the clan of shudras into the clan of Brahmins. It is you who listen to the true story. In the golden age, Lakshmi and Narayan had palaces that were studded with diamonds and jewels. What is there now? The Father has already told you this story. The Father says: Remember Me and the alloy will be removed. The more alloy you remove, the higher your status will be. Everyone understands, numberwise. Baba knows the ones whose intellects are able to imbibe well. There is no difficulty in explaining this; it is very easy. It is well known that human beings become deities. Keep relating this true story of becoming Narayan. The other story is false; this is the true story. It is easy to relate the true story of becoming Narayan and to read the murli at the centre. Anyone can run a centre, but you also need very good manners. You should not be like salt water with each other. You lose your honour if you are not sweet to each other. The Father says: You cannot claim a high status if you defame Me. Gurus have said that of themselves. They do not show a destination. There is only the One who can show you your destination. There is a loss and your status is destroyed if you defame Him. If you dirty your face, you destroy yourself completely. There are some who experience defeat. Some write with honesty, yet there are others who tell lies. All falsehood is removed from the intellect if you continue to relate the true story. Do not perform such actions that the Father is defamed. Those who have such a stage will behave the same no matter where they go. They do realise that they cannot improve; therefore, they are given the advice: Stay at home with your family and do service when you have imbibed the knowledge. You will not accumulate sin while staying at home. Here, you cause defamation when you behave in a common way. It is better to live like a lotus at home with your family. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to remove falsehood from within you, constantly listen to the true story of becoming Narayan and inspire others to do the same. Do not perform such activity that the Father would be defamed.
  2. Be sweet in your interaction with each other. Never be like salt water. Imbibe good qualities and then do service.
Blessing: May you be an easy effort-maker who gives and receives blessings on the basis of contentment.
Those who stay content and make everyone else content receive everyone’s blessings. Where there is contentment, there are blessings. If you find it an effort to imbibe all virtues and control all powers, then let go of that, but simply do the one task of giving and receiving blessings from amrit vela till night for everything will be included in that. Even if someone causes you sorrow, you simply give that one blessings and you will become an easy effort-maker.
Slogan: Everyone’s co-operation is surrendered to those who stay in the surrendered stage.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 17/05/2017 :- Click Here

Daily Murli 19 May 2017 : Bk Dainik Gyan Murli (Hindi)

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 18/05/2017 :- Click Here

19/05/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – विचार सागर मंथन कर भारत की हिस्ट्री-जाग्रॉफी और नई दुनिया का संवत सिद्ध कर बताओ तो कल्प की आयु सिद्ध हो जायेगी”
प्रश्नः- तुम बच्चों को अभी कौन सी धुन लगी हुई है जो मनुष्यों से भिन्न है?
उत्तर:- तुम्हें धुन है कि विश्व का बेड़ा जो डूबा हुआ है उसे हम सैलवेज करें। सबको सच्ची-सच्ची सत्य नारायण की कथा वा अमरकथा सुनायें जिससे सबकी उन्नति हो। इतने बड़े-बड़े महल, बिजली आदि सब कुछ है परन्तु उन्हें यह पता नहीं है कि यह सब आर्टीफिशल झूठी उन्नति है। सच्ची उन्नति तो सतयुग में थी, जो अब बाप आकर करते हैं।
गीत:- गीत:- आखिर वह दिन आया आज…..

 

ओम् शान्ति। गरीबनिवाज़ आया तो सही, परन्तु कोई सही तिथि तारीख नहीं लिखते हैं। कोई डेट, संवत तो होना चाहिए ना। जैसे बताते हैं कि आज फलानी तारीख, फलाना मास, फलाना संवत है। गरीब निवाज़ कब आया? यह लिखा नहीं है। जैसे लक्ष्मी-नारायण सतयुग आदि में थे तो उनका भी संवत होना चाहिए। इनका फलाने सवंत में राज्य था। लक्ष्मी-नारायण का भी संवत है और भी सबके अपने-अपने संवत हैं। गुरूनानक का भी लिखा होगा कि फलाने संवत में जन्म लिया। संवत बिगर पता नहीं पड़ता। यह लक्ष्मी-नारायण भारत में राज्य करते थे, तो जरूर संवत होना चाहिए, इनका संवत माना स्वर्ग का संवत। लक्ष्मी-नारायण ने सतयुग में राज्य किया, किस संवत से किस संवत तक कहें, तो भी 5 हजार वर्ष ही कहेंगे। गीता जयन्ती का थोड़ा फ़र्क करना पड़ता है। शिव जयन्ती और गीता जयन्ती में फ़र्क नहीं है। कृष्ण जयन्ती का फ़र्क पड़ेगा। लक्ष्मी-नारायण का वही संवत लिखना होगा। यह भी विचार सागर मंथन करना होता है। पब्लिक को यह कैसे बतायें। लक्ष्मी-नारायण का क्यों नहीं संवत दिखाते हैं। पाम संवत दिखाते हैं, बाकी विकर्माजीत संवत कहाँ! अभी तुम बच्चों को अच्छी तरह मालूम है। भारत की हिस्ट्री-जॉग्राफी नई दुनिया का संवत भी दिखाना चाहिए। नई दुनिया में राज्य था आदि सनातन देवी-देवताओं का, तो उनका संवत भी कहेंगे। हिसाब करेंगे तो उनको 5 हजार वर्ष हुआ। यह सिद्ध कर बताने से कल्प की आयु सिद्ध हो जायेगी और लाखों वर्ष जो लिखा है वह झूठा हो जायेगा। यह बातें बाप आकर समझाते हैं। जो मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है, सृष्टि के आदि मध्य अन्त को जानने वाला है। लक्ष्मी-नारायण की डिनायस्टी को 5 हजार वर्ष हुआ और 3750 वर्ष हुए राम- सीता को, फिर आगे उनकी डिनायस्टी चली। फिर पाम संवत शुरू होता है। पाम राजा का जो संवत है वह भी राइट नहीं है, बीच में कुछ वर्ष गुम हैं। होना चाहिए 2500 वर्ष। इस्लामी, बौद्धी का भी थोड़ा समय पीछे शुरू होता है। इन्होंने दो हजार वर्ष से अपना संवत दिया है।

तुम जानते हो हम सभी देवी-देवता थे, जो चक्र लगाकर अब ब्राह्मण बने हैं। यह हिस्ट्री-जॉग्राफी अच्छी तरह समझानी है। ब्राह्मण से फिर देवता बनते हैं। हिस्ट्री-जॉग्राफी समझते हो तो संवत भी समझना पड़े। सीढ़ी के चित्र में संवत लिखा हुआ है। भारत का संवत ही गुम हो गया है। जो पूज्य थे, उनका संवत ही गुम कर दिया है। पुजारियों का संवत शुरू हो गया है। देखो, अशोक पिल्लर कहते हैं। द्वापर में अशोक (शोक रहित) तो कोई है नहीं। अशोक पिल्लर तो आधाकल्प सतयुग त्रेता तक चलता है। उनकी यह महिमा है। शोक पिल्लर की महिमा नहीं है। यहाँ तो दु:ख ही दु:ख है। अशोका होटल नाम रखा है, परन्तु है नहीं। आधाकल्प क्षणभंगुर सुख को अशोक कह देते हैं। यहाँ अशोक कुछ है नहीं। मास-मदिरा, गन्द खाते रहते हैं। कुछ भी समझते नहीं कि हम दु:खी कैसे हुए? कारण क्या है?

अभी तुम समझते हो यह बातें सुनेंगे वही जो कल्प पहले स्वर्ग में सुखी थे। जो वहाँ थे नहीं, वह सुनेंगे भी नहीं। जिन्होंने भक्ति पूरी की होगी वह कुछ न कुछ आकर शिक्षा लेंगे। नॉलेज को सुनकर लोग खुश होंगे। चित्र भी क्लीयर हैं। संवत भी लिखा हुआ है। ब्रह्मा विष्णु का जन्म भी तो यहाँ होना चाहिए। बाकी शंकर तो सूक्ष्मवतन का है और शिव है मूलवतन में। सूक्ष्म, मूल को भी जानते नहीं, इसलिए शिव शंकर को मिला दिया है। शिव है परमपिता परमात्मा, शंकर है देवता। दोनों को मिला न सकें। अभी तुम बच्चों को कितनी समझ मिली है। कितना नशा चढ़ता है। रात-दिन यही तात लगी रहे कि लोगों को कैसे समझावें। बेसमझ को ही समझाया जाता है। तुम समझते हो कि भारत पहले क्या था फिर डाउनफाल कैसे हुआ है। दुनिया तो समझती हमने बहुत उन्नति की है। आगे तो इतने बड़े महल, बिजली आदि कुछ नहीं था। अभी तो बहुत उन्नति में जा रहा है क्योंकि उन्हों को तो यह पता ही नहीं है कि यह आर्टीफीशियल झूठी है। सच्ची उन्नति तो सतयुग में थी। यह समझाना है, वे अपनी धुन में हैं, तुम्हारी धुन अपनी ही है। तुमको खुशी है तो विश्व का बेड़ा जो डूबा हुआ था, उनको हम बाबा की नॉलेज द्वारा सैलवेज कर रहे हैं। बाबा हमें सत्य नारायण की कथा वा अमर कथा फिर से सुनाते हैं। भक्ति मार्ग में तो अनेक कथायें सुनाते हैं। तुम समझते हो कि वे सब झूठी कथायें हैं जिससे कोई फायदा नहीं। यह शास्त्र आदि पढ़ते आये हैं फिर भी सृष्टि तो तमोप्रधान होती ही जाती है। सीढ़ी उतरते आये फायदा क्या हुआ? सिक्ख लोगों का भी मेला लगता है। वहाँ तालाब में स्नान करते हैं। वह गंगा जमुना आदि को नहीं मानते हैं। कुम्भ के मेले पर सिक्ख लोग नहीं जाते हैं। वह अपने तालाब पर जाते होंगे। उनका फिर खास प्रोग्राम होता है। कभी उनको साफ करने भी जाते हैं। सतयुग में तो यह बातें होती नहीं। सतयुग में तो नदियां आदि बिल्कुल साफ हो जायेंगी। वहाँ कभी गंगा, जमुना में गन्द, किचड़ा नहीं पड़ता। वहाँ के गंगा जल और यहाँ के गंगा जल में रात-दिन का फ़र्क है। यहाँ तो बहुत किचड़ा पड़ता है। वहाँ तो हर एक चीज़ फर्स्टक्लास होती है।

तुम बच्चों को अब बहुत खुशी है कि हमारी राजधानी ऐसी होगी। हम फिर से 5 हजार वर्ष बाद श्रीमत पर स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। नाम ही है स्वर्ग, बैकुण्ठ, जिसमें लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। शान्तिधाम अथवा निर्वाणधाम एक ही है। तुम जानते हो कि हम शान्तिधाम में कैसे रहते हैं। ऊपर में है शिवबाबा फिर ब्रह्मा-विष्णु-शंकर, फिर देवताओं की माला फिर क्षत्रिय, वैश्य, शुद्र। निराकारी झाड़ से आत्मायें नम्बरवार आती रहती हैं। जो सतयुग में आने वाले नहीं हैं, वे पढ़ने के लिए कभी आयेंगे नहीं। हिन्दू धर्म ही जैसे अलग हो पड़ा है। किसको पता नहीं कि आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। वह धर्म कैसे और कब स्थापन हुआ, किसको पता नहीं है। तुमको यह नॉलेज अब दी गई है कि दूसरों को भी समझाओ। चित्र तो बहुत सहज हैं। कोई को भी समझा सकते हो कि इन्होंने यह राज्य कब और कैसे लिया? और कितना समय तक राज्य किया? राम-सीता का भी होना चाहिए कि फलाने संवत से फलाने संवत तक इन्होंने राज्य किया। पीछे फिर पतित राजायें शुरू हो जाते हैं। यह देवतायें हैं मुख्य, जिनकी पूजा होती है। वास्तव में महिमा सारी एक पूज्य की होनी चाहिए। भक्ति मार्ग में तो सबको पूजते रहते हैं। अपने-अपने समय पर हर एक की महिमा होती है। मन्दिरों में जाकर पूजा आदि करते हैं, परन्तु उनको जानते बिल्कुल ही नहीं। अभी तुम समझाते हो तो सुनकर खुश होते हैं, तब तो सेन्टर्स खोलते हैं। समझते हैं कि इस नॉलेज से हम सो देवता बनेंगे। बाप ने गरीबों को आकर साहूकार बनाया है। बाप आकर बच्चों को समझाते हैं, बच्चे फिर औरों को समझाकर उन्हों का भाग्य खोलें। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी अभी तुम बाप द्वारा सुनते हो। वह समझने से तुम सब कुछ जान जाते हो। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी तो जरूर वर्ल्ड का रचयिता बीजरूप ही सुनायेंगे। वही नॉलेजफुल है। वह है निराकार शिव। देहधारी को भगवान रचयिता कह नहीं सकते। निराकार ही सभी आत्माओं का पिता है। वह बैठ आत्माओं को समझाते हैं। मैं परमधाम में रहने वाला हूँ। अभी मैं इस शरीर में आया हूँ। मैं भी आत्मा हूँ। मैं बीजरूप, नॉलेजफुल होने कारण तुम बच्चों को समझाता हूँ। इसमे आशीर्वाद, कृपा आदि की कोई बात नहीं है। न अल्पकाल सुख की बात है। अल्पकाल का सुख तो लोग दे देते हैं। एक को कुछ फायदा हुआ तो बस नाम चढ़ जाता है। तुम्हारी प्राप्ति तो 21 जन्म के लिए है। सो तो सिवाए बाप के ऐसी प्राप्ति कोई करा न सके। 21 जन्मों के लिए निरोगी काया कोई बना न सके। भक्ति मार्ग में मनुष्यों को थोड़ा भी सुख मिलता है तो खुश हो जाते हैं। यहाँ तो 21 जन्म के लिए प्रालब्ध पाते हैं। तो भी बहुत हैं जो पुरुषार्थ नहीं करते। उन्हों की तकदीर में नहीं है। तदबीर तो सभी को एक समान ही कराते हैं। उस पढ़ाई में तो कभी अलग टीचर भी मिल जाते हैं। यह तो एक ही टीचर है। भल तुम खास बैठ समझाते होंगे। लेकिन नॉलेज तो एक है, सिर्फ हर एक के उठाने पर मदार है। यह भी एक कहानी है, जिसमें सारा राज़ आ जाता है। बाबा सत्य नारायण की कथा सुनाते हैं। तुम अंगे अखरे (तिथि-तारीख) सब सुना सकते हो। कोई-कोई सत्य नारायण की कथा सुनाने वाले नामीग्रामी होंगे। उनको सारी कथा कण्ठ हो जाती है। तुम फिर यह सच्ची सत्य नारायण की कथा कण्ठ कर लो। बहुत सहज है। बाप पहले तो कहते हैं मन्मनाभव, फिर बैठ हिस्ट्री समझाओ। इन लक्ष्मी-नारायण का तो संवत बता सकते हो ना। आओ तो हम आपको समझावें कि बाप कैसे संगमयुग पर आता है। ब्रह्मा तन में आकर सुनाते हैं। किसको? ब्रह्मा मुखवंशावली को। जो फिर देवता बनते हैं, 84 जन्म की कहानी है। ब्राह्मण सो देवता बनते हैं। पूरी नॉलेज है, यह सुनकर फिर बैठकर रिपीट करो तो बुद्धि में सब आ जायेगा कि हम देवता थे फिर ऐसे चक्र लगाया। यह है सत्य नारायण की कथा। कितनी सहज है, कैसे राज्य लिया फिर कैसे गवॉया .. कितना समय राज्य किया। लक्ष्मी-नारायण और उनका कुल, घराना था ना। सूर्यवंशी घराना, फिर चन्द्रवंशी घराना फिर संगम पर बाप आकर शूद्रवंशियों को ब्राह्मण वंशी बनाते हैं। यह सच्ची-सच्ची कथा तुम सुन रहे हो। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण के हीरे जवाहरों के महल थे। अभी तो क्या है। बाप ने यह तो कथा सुनाई है ना।

अब बाप कहते हैं कि मुझे याद करो तो खाद निकल जायेगी। जितना खाद निकलेगी उतना ऊंच पद पायेंगे। नम्बरवार समझते हैं। बाबा जानते हैं कि कौन-कौन अच्छी रीति बुद्धि में धारण कर सकते हैं। समझाने में कोई तकलीफ नहीं है। बिल्कुल सहज है। मनुष्य से देवता बनना तो मशहूर है। घड़ी-घड़ी यही सत्य नारायण की कथा सुनाते रहो। वह है झूठी, यह है सच्ची। सेन्टर पर भी सत्य-नारायण की कथा सुनाते रहो वा मुरली सुनाते रहो तो बहुत सहज है। कोई भी सेन्टर चला सकते हैं। परन्तु फिर लक्षण भी अच्छे चाहिए। एक दो में लूनपानी नहीं होना चाहिए। आपस में मीठे होकर नहीं चलते हैं तो आबरू (इज्जत) गंवाते हैं। बाप कहते हैं कि मेरी निंदा करायेंगे तो ऊंच पद नहीं पा सकेंगे। उन गुरूओं ने फिर अपने लिए कह दिया है। अब तो वह कोई ठौर बताते नहीं। ठौर बताने वाला तो एक ही है, उसकी निन्दा करायेंगे तो नुकसान के भागी बन जायेंगे। फिर पद भी भ्रष्ट हो पड़ता है। काला मुंह करते हैं तो अपनी सत्यानाश करते हैं। ऐसे भी हैं जो हार खा लेते हैं फिर कोई तो सच्चाई से लिखते हैं, कोई झूठ भी बोलते हैं। अगर सच्ची कथा सुनाते रहें तो बुद्धि से झूठ निकल जाये। ऐसी चलन नहीं चलनी चाहिए जिससे बाप की निन्दा हो। जिनकी ऐसी अवस्था है वह जहाँ भी जाते हैं तो ऐसी ही चलन चलते हैं। खुद भी समझते हैं कि हम सुधर नहीं सकेंगे तो फिर राय दी जाती है – घर गृहस्थ में रहो। जब धारणा हो जाये तब फिर सर्विस करना। घर में रहेंगे तो तुम्हारे ऊपर इतना पाप नहीं चढ़ेगा। यहाँ फिर ऐसी कामन चलन चलते हैं तो निन्दा करा देते हैं, इससे तो गृहस्थ व्यवहार में कमल फूल समान रहना अच्छा है। अच्छा –

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अन्दर से झूठ निकल जाये उसके लिए सदा सत्य नारायण की कथा सुननी और सुनानी है। कभी ऐसी चलन नहीं चलनी है जो बाप की निन्दा हो।

2) आपस में बहुत मीठा होकर रहना है, कभी लूनपानी नहीं होना है। अच्छे लक्षण धारण कर फिर सेवा करनी है।

वरदान:- सन्तुष्टता के आधार पर दुआयें देने और लेने वाले सहज पुरूषार्थी भव
सर्व की दुआयें उन्हें मिलती हैं जो स्वयं सन्तुष्ट रहकर सबको सन्तुष्ट करते हैं। जहाँ सन्तुष्टता है वहाँ दुआयें हैं। यदि सर्व गुण धारण करने वा सर्व शक्तियों को कन्ट्रोल करने में मेहनत लगती हो, तो उसे भी छोड़ दो, सिर्फ अमृतवेले से लेकर रात तक दुआयें देने और दुआयें लेने का एक ही कार्य करो तो इसमें सब कुछ आ जायेगा। कोई दु:ख भी दे तो भी आप दुआयें दो तो सहज पुरूषार्थी बन जायेंगे।
स्लोगन:- जो समर्पित स्थिति में रहते हैं उनके आगे सर्व का सहयोग स्वत: समर्पित हो जाता है।

[wp_ad_camp_5]

To read Murli 17/05/2017 :- Click Here

 

Daily Murli 18 May 2017 : Bk Dainik Gyan Murli (Hindi)

[wp_ad_camp_5]

To read Murli 17/05/2017 :- Click Here

18/05/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – विजय माला में आना है तो निश्चयबुद्धि बनो, निराकार बाप हमें पढ़ाते हैं, वह साथ ले जायेंगे, इस निश्चय में कभी संशय न आये”
प्रश्नः- विजयी रत्न बनने वालों की मुख्य निशानी क्या होगी?
उत्तर:- उन्हें कभी किसी बात में संशय नहीं आयेगा। वह निश्चयबुद्धि होंगे। उन्हें निश्चय होगा कि यह संगम का समय है। अब दु:खधाम पूरा हो सुखधाम आना है। 2- बाप ही राजयोग सिखला रहे हैं, वह देही-अभिमानी बनाकर साथ ले जायेंगे। वह अभी हम आत्माओं से बात करते हैं। हम उनके सम्मुख बैठे हैं। 3- परमात्मा हमारा बाप भी है, राजयोग की शिक्षा देते हैं इसलिए शिक्षक भी है और शान्तिधाम में ले जायेंगे इसलिए सतगुरू भी है। ऐसे निश्चयबुद्धि हर बात में विजयी होंगे।
गीत:- तुम्हें पाके हमने..

ओम् शान्ति। बाप ने बच्चों को ओम् शान्ति का अर्थ तो समझाया है। हर एक बात सेकेण्ड में समझने की है। जैसे बच्चे भी कहते हैं ओम् अर्थात् अहम् आत्मा मम शरीर। वैसे बाप भी कहते अहम् आत्मा परमधाम में रहने वाली। वह हो जाता है परमात्मा। ओम्…. यह बाप भी कह सकते हैं तो बच्चे भी कह सकते हैं। अहम् आत्मा वा परमात्मा दोनों का स्वधर्म है शान्त। तुम जानते हो आत्मा शान्तिधाम में निवास करने वाली है। वहाँ से इस कर्मक्षेत्र पर पार्ट बजाने आई है। यह भी जानते हो हम आत्मा का रूप क्या है और बाप का रूप क्या है? जो कोई भी मनुष्य सृष्टि में नहीं जानते हैं। बाप ही आकर समझाते हैं। बच्चे भी समझाते हैं हमारा बाप परमपिता परमात्मा है, वह शिक्षक भी है तो हमारा सत सुप्रीम गुरू भी है जो हमको साथ ले जायेंगे। गुरू तो बहुत करते हैं। अभी बच्चे निश्चय करते हैं कि परमपिता परमात्मा बाप भी है, सहज राजयोग और ज्ञान की शिक्षा भी दे रहे हैं और फिर साथ भी ले जायेंगे। इस निश्चय में ही तुम बच्चों की विजय है। विजय माला में पिरोये जायेंगे। रूद्र माला वा विष्णु की माला। भगवानुवाच – मैं तुम बच्चों को राजयोग सिखलाता हूँ। तो टीचर भी हो गया। मत तो मिलनी चाहिए ना। बाप की अलग मत, टीचर की अलग, गुरू की अलग होती है। भिन्न-भिन्न मत मिलती हैं। यह फिर सभी का एक ही है, इसमें संशय आदि की कोई बात नहीं। जानते हो हम ईश्वर की फैमिली अथवा वंशावली हैं। गॉड फादर इज क्रियेटर। गाते भी हैं तुम मात-पिता हम बालक तेरे। तो जरूर फैमिली हो गई। भारत में ही गाते हैं। वह है पास्ट की बात। अभी प्रेजेन्ट में तुम उनके बच्चे बने हो। उसके लिए ही शिक्षा लेते हैं। बाबा आपकी श्रीमत पर हम चलते हैं तो जो पाप हैं वह योगबल से कट जायेंगे। बाप को ही पतित-पावन सर्वशक्तिमान् कहते हैं। बाप तो एक ही है। बरोबर मम्मा बाबा भी कहते हैं, उनसे राजयोग सीख रहे हो। आधाकल्प तुम ऐसा वर्सा पाते हो जो वहाँ दु:ख का नाम नहीं रहता। वह है ही सुखधाम। जब दु:खधाम का अन्त होगा तब तो बाप आयेंगे ना। वह भी संगम का समय हो गया। तुम जानते हो बाबा हमको राजयोग भी सिखलाते हैं। देही-अभिमानी बनाकर साथ भी ले जाते हैं। तुमको कोई मनुष्य नहीं पढ़ाते हैं। यह तो निराकार बाप पढ़ाते हैं। तुम आत्माओं से बात हो रही है। इसमें संशय की वा मूंझने की कोई बात नहीं। सामने बैठे हैं। यह भी जानते हो हम ही देवता थे तो पवित्र प्रवृत्ति मार्ग के थे। 84 जन्मों का पार्ट पूरा किया है। तुमने 84 जन्म लिए हैं। गाते भी हैं आत्मायें और परमात्मा अलग रहे बहुकाल.. सतयुग आदि में पहले-पहले देवी-देवतायें ही होते हैं, जो फिर कलियुग अन्त में पतित बनते हैं। पूरे 84 जन्म लेते हैं। बाप हिसाब भी बतलाते हैं। सन्यासियों का धर्म ही अलग है। झाड़ में अनेक प्रकार के धर्म हैं। पहले-पहले फाउन्डेशन है देवी-देवता धर्म। कोई मनुष्य वह देवी-देवता धर्म स्थापन नहीं कर सकते। देवी-देवता धर्म प्राय: लोप है, फिर से अभी स्थापना हो रही है। फिर सतयुग में तुम अपनी प्रालब्ध भोगेंगे। बड़ी जबरदस्त कमाई है।

तुम बच्चे अभी बाप से सच्ची कमाई करते हो, जिससे तुम सचखण्ड में सदा सुखी बनते हो। तो अटेन्शन देना पड़े। बाप ऐसे नहीं कहते घर-बार छोड़ो। वह तो सन्यासियों को वैराग्य आता है। बाप कहते हैं वह रांग है, इससे कोई सृष्टि का कल्याण नहीं होगा। फिर भी भारत में इन सन्यासियों का धर्म अच्छा है। भारत को थमाने के लिए सन्यास धर्म स्थापन होता है क्योंकि देवतायें वाम मार्ग में चले जाते हैं। मकान आधा समय पूरा होता है तो थोड़ी मरम्मत कराई जाती है। एक दो वर्ष में पोताई आदि होती है। कोई तो समझते हैं लक्ष्मी का आह्वान करेंगे परन्तु वह तो तब आयेगी जब शुद्ध होंगे। भक्ति मार्ग में महालक्ष्मी की पूजा करते हैं, उनसे पैसा लेने के लिए। जगत अम्बा के पास कभी पैसा नहीं मांगेंगे। पैसे के लिए लक्ष्मी के पास जाते हैं। दीपमाला पर व्यापारी लोग भी रूपये पूजा में रखते हैं। समझते हैं वृद्धि होगी। मनोकामना पूरी होती है। जगत अम्बा का सिर्फ मेला लगता है। मेला तो है ही – यह जगतपिता जगत-अम्बा से मिलने का मेला। यह है सच्चा मेला, जिससे फायदा होता है। उन मेलों पर भी बहुत भटकते हैं। कहाँ नांव डूब पड़ती है। कहाँ बस एक्सीडेंट हो पड़ती। बहुत धक्के खाने पड़ते हैं। भक्ति के मेले का बहुत शौक रहता है क्योंकि सुना है ना – आत्माओं और परमात्मा का मेला लगता है। यह मेला मशहूर है, जो फिर भक्ति मार्ग में मनाते हैं। कॉम्पीटीशन है राम और रावण की। तो बाप अच्छी रीति समझाते हैं – मूर्छित नहीं होना है। राम और रावण दोनों सर्वशक्तिवान् हैं। तुम हो युद्ध के मैदान में। कई तो घड़ी-घड़ी माया से हारते हैं। बाप कहते हैं तुम मुझ उस्ताद को याद करते रहेंगे तो कभी हारेंगे नहीं। बाप की याद से ही विजय पाते जायेंगे। ज्ञान तो सेकेण्ड का है। बाप विस्तार से समझाते हैं, यह सृष्टि चक्र कैसे फिरता है। नटशेल में तुम बच्चे बीज और झाड़ को जानते हो। इनका नाम भी है कल्प वृक्ष। इनकी आयु लाखों वर्ष तो हो नहीं सकती। यह है वैरायटी धर्मो का झाड़, एक धर्म की शक्ल न मिले दूसरे से। बिल्कुल ही भिन्न हैं। इस्लामी आदि कितने काले हैं, वहाँ भी धन बहुत है। धन के पिछाड़ी तो सब हैं। भारतवासियों के फीचर्स बिल्कुल अलग-अलग हैं। भिन्न वैरायटी धर्मो का झाड़ है। तुम समझ गये हो कैसे वृद्धि होती है, इनकी भेंट बनेन ट्री से की जाती है। अभी प्रैक्टिकल में तुम देखते हो इनका फाउन्डेशन खत्म हो गया है। बाकी धर्म कायम हैं। देवी-देवता धर्म कोई नहीं है। कलकत्ते में तुम देखेंगे सारा झाड़ हरा भरा खड़ा है। फाउन्डेशन है नहीं। इनका भी फाउन्डेशन है नहीं, जो स्थापन हो रहा है।

बच्चे समझते हैं अब नाटक पूरा होता है। अब वापिस चलना है बाबा के पास। तुम मेरे पास आ जायेंगे। यह भी जानते हैं सिवाए भारत के और कोई खण्ड स्वर्ग बन नहीं सकता। गाते भी हैं प्राचीन भारत। परन्तु गीता में कृष्ण का नाम डाल दिया है। बाप कहते हैं श्रीकृष्ण को तो पतित-पावन कोई कहेंगे नहीं, निराकार को मानेंगे। कृष्ण तो सतयुग का प्रिन्स है। उस नाम, रूप, देश में फिर कृष्ण स्वर्ग में ही आयेगा। वही फीचर्स फिर थोड़ेही हो सकते। एक-एक के फीचर्स अलग-अलग हैं। कर्म भी सबके अलग-अलग हैं। यह अनादि ड्रामा बना हुआ है। हर एक आत्मा को पार्ट मिला हुआ है। आत्मा अविनाशी है। बाकी यह शरीर विनाशी है। मैं आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेता हूँ। परन्तु यह आत्मा का ज्ञान भी कोई को नहीं है। बाप आकर नई बातें सुनाते हैं, मेरे सिकीलधे बच्चे। बच्चे भी कहते हैं बाबा 5 हजार वर्ष हुए हैं आप से मिले। योगबल से तुम सारे विश्व के मालिक बनते हो। पहली हिंसा है एक दो पर काम कटारी चलाना। यह भी समझाया गया है – बाहुबल की लड़ाई से कभी भी कोई विश्व के मालिक बन नहीं सकते। जबकि योगबल से बनने वाले हैं। परन्तु शास्त्रों में फिर देवताओं और दैत्यों की युद्ध दिखाई है। वह बात ही नहीं। यहाँ तुम योगबल से जीत पाते हो बाप द्वारा। बाप है विश्व का रचयिता, सो जरूर नई विश्व ही रचते हैं। लक्ष्मी-नारायण नई दुनिया स्वर्ग के मालिक थे। हम ही स्वर्ग के मालिक थे फिर 84 जन्म ले पतित वर्थ नाट ए पेनी बन पड़े हैं। अब तुमको ही पावन बनना है। भगत तो बहुत हैं। परन्तु जास्ती भक्ति किसने की है? जो आकर ब्राह्मण बनते हैं उन्होंने ही शुरू से लेकर भक्ति की है। वही आकर ब्राह्मण बनेंगे। प्रजापिता सूक्ष्मवतन में तो नहीं है। ब्रह्मा तो यहाँ चाहिए ना, जिसमें प्रवेश करते हैं। तुम जानते हो जो बाबा मम्मा यहाँ हैं, वह वहाँ हैं। यह बातें बड़ी अच्छी समझने की हैं। डायरेक्शन बाबा देते रहते हैं, ऐसे-ऐसे तुम सर्विस करो। बच्चे नई-नई इन्वेन्शन निकालते हैं। कोई चीज़ की कोई इन्वेन्शन करते तो कहेंगे कि कल्प पहले भी यह इन्वेन्शन निकाली थी फिर उनको इप्रूवमेन्ट किया जाता है। स्वर्ग और नर्क का गोला जो बनाया है यह बहुत अच्छा है। कृष्ण सभी को बहुत प्यारा लगता है। परन्तु उन्हों को यह पता नहीं कि यही नारायण बनता है, अब यह युक्ति से समझाना है। तुम्हारा यह गोला तो बहुत बड़ा होना चाहिए। एकदम छत जितना बड़ा हो, जिसमें नारायण का चित्र हो, कृष्ण का भी हो। बड़ी चीज़ मनुष्य अच्छी रीति देख सकते हैं। जैसे पाण्डवों के कितने बड़े-बड़े चित्र बनाये हैं। पाण्डव तो तुम हो ना। यहाँ बड़े तो कोई हैं नहीं। जैसे मनुष्य होते हैं 6 फुट वाले, ऐसे ही हैं। ऐसे मत समझो सतयुग में बड़ी आयु होती है इसलिए लम्बे शरीर वाले होंगे। जास्ती लम्बा मनुष्य तो शोभता नहीं। तो समझाने के लिए बड़े-बड़े चित्र चाहिए। सतयुग का चित्र भी फर्स्टक्लास बनाना है। इसमें लक्ष्मी-नारायण का, नीचे राधे कृष्ण का भी देना है। यह है प्रिन्स प्रिन्सेज। यह चक्र फिरता रहता है। ब्रह्मा सरस्वती फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। हम ब्राह्मण सो फिर देवता बनते हैं। यह अभी जानते हैं हम सो लक्ष्मी-नारायण बनते हैं, फिर हम सो राम सीता बनेंगे। ऐसी राजाई करेंगे। बच्चे ऐसे चित्रों पर बैठ किसको समझायेंगे तो बड़ा मजा आयेगा। कहेंगे यह तो बड़ा फर्स्टक्लास ज्ञान है। बरोबर हठयोगी तो यह ज्ञान दे न सकें। सतयुग में पवित्र प्रवृत्ति मार्ग था। अभी है अपवित्र। बाप बिगर बेहद का वर्सा कोई दे न सके। जानते हो बाबा हमको विश्व का मालिक बनाने की शिक्षा दे रहे हैं। वह अच्छी रीति धारण करना चाहिए। पढ़ाई से मनुष्य बहुत ऊंच बन जाते हैं। तुम भी अभी अहिल्या, कुब्जा आदि हो। बाप बैठ पढ़ाते हैं, जिस पढ़ाई से फिर तुम विश्व के मालिक बनते हो। ज्ञान का सागर भी वह है। अब बाप कहते हैं अपने को अशरीरी समझो। नंगे आये थे फिर नंगे जाना है।

तुम जानते हो यह हमारा 84 का चक्र अब पूरा होना है। यह तो बड़ा वन्डरफुल है। इतनी छोटी आत्मा में कितना बड़ा भारी पार्ट भरा हुआ है, जो कभी मिटने का नहीं है। इनकी न आदि है, न अन्त है। कितनी वन्डरफुल बातें हैं। हम आत्मा 84 का चक्र लगाते हैं, इनका कभी अन्त नहीं होता। अब हम पुरुषार्थ कर रहे हैं। उसमें सारी नॉलेज है। स्टार की ही वैल्यु होती है। स्टार जितना तीखा उतना दाम जास्ती। अब इस एक स्टार में कितना सारा ज्ञान है। गाते भी हैं भ्रकुटी के बीच में चमकता है अजब सितारा। इस वन्डर को तुम जानते हो। बाप कहते हैं मैं भी स्टार हूँ, जिसका साक्षात्कार भी हो सकता है। परन्तु सुना है ना कि वह बहुत तेजोमय, अखण्ड ज्योति है। सूर्य मिसल है। तो बाबा अगर स्टार रूप दिखाये तो मानें नहीं। ऐसे बहुत ध्यान में जाते थे तो तेजोमय जो कहते वह साक्षात्कार हो जाता था। अभी तुम समझते हो कि परमात्मा स्टार मिसल है। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चो को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार :-

1) सचखण्ड का मालिक बनने के लिए बाप से सच्ची कमाई करनी है। बाप जो उस्ताद है उसकी याद में रह मायाजीत बनना है।

2) बाप से बेहद का वर्सा लेने के लिए बाप की जो भी शिक्षायें मिलती हैं उन पर पूरा ध्यान देना है। उन शिक्षाओं को अच्छी रीति धारण करना है।

वरदान:- बाप की छत्रछाया के नीचे सदा सेफ्टी का अनुभव करने वाले सर्व आकर्षण मुक्त भव
जैसे स्थूल दुनिया में धूप वा बारिश से बचने के लिए छत्रछाया का आधार लेते हैं, वह है स्थूल छत्रछाया और यह है बाप की छत्रछाया, जो आत्मा को हर समय सेफ रखती है। उसे कोई भी आकर्षण अपनी ओर आकर्षित कर नहीं सकती। दिल से बाबा कहा और सेफ। चाहे कैसी भी परिस्थिति आ जाए-छत्रछाया के अन्दर रहने वाले सदा सेफ्टी का अनुभव करते हैं। माया के प्रभाव का सेक-मात्र भी नहीं आ सकता।
स्लोगन:- ऐसे स्व-राज्य अधिकारी बनो जो अधीनता समाप्त हो जाए।

 [wp_ad_camp_5]

To Read Murli 16/05/2017 :-Click Here

TODAY MURLI 15 May 2017 DAILY MURLI (English)

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli in Hindi :- Click Here

To Read Murli 14/05/2017 :- Click Here

15/05/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, by following the Father’s directions, you become elevated. By following Ravan’s dictates, all your honour turns to dust.
Question: What are the signs of heir children who claim their Godly birthright?
Answer: Heir children: 1) They f ollow the Father fully. 2) They keep themselves very safe from the company of shudras. They never become influenced by their company and do not mix the dictates of their own minds with the Father’s directions. 3) They tell the Father their true chart. 4) They continue to make progress by cautioning one another. 5) They never think of letting go of the Father’s hand.
Song: Mother, o mother, you are the bestower of fortune for all.

 

Om shanti. You children heard the song. This is the praise of the World Mother, Kamdhenu (cow that fulfils all desires). This is the praise of Jagadamba. In fact, she too is the Brahmaputra River in an incognito way. It is sung: You are the Mother and Father and we are Your children. Shiv Baba creates children through the lotus mouth of Brahma. So he is the mother. These are very deep matters. These things are not mentioned in the scriptures. Baba has explained that the scriptures are the paraphernalia of the path of devotion. The Father sits here and explains to you the essence of all the scriptures. It isn’t that He speaks the Gita. No, the Father Himself is the Ocean of Knowledge. Although this one has studied the Gita and the Bhagawad, you wouldn’t say of Shiv Baba that He has studied everything. No, He is knowledgefull. He says: I am the Seed of this human world tree. I have the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. The Father says: I speak of this through Brahma. Then, everything He has spoken will disappear. The true Gita that you have written now will also not be with you. The Gita etc. are scriptures of the path of devotion and they will emerge again. No one receives salvation by reading those scriptures etc. You children know that these actors are at first in the land of liberation without bodies. Then they come here, adopt bodies and play their part s. Those imperishable part s are recorded in souls. There is just one world cycle and its Creator is only One. There is only one world cycle that continues to turn. This drama is eternally predestined. In the golden age there used to be the kingdom of deities. You are now becoming those once again. The Supreme Father, the Supreme Soul, first of all created the Brahmin world through the mouth of Brahma. First of all, there is the new world of the confluence. There is the old and the new. Brahmins are the topknot. The feet and the topknot are said to be the confluence. You Brahmins are doing spiritual service of the world with the Father. The Father is serving the spirits. You too are serving spirits, that is, you are making them satopradhan from tamopradhan. Therefore, only those who follow the Father’s shrimat will claim the highest-on-high status. You children have to become elevated by following shrimat. You children know that you were deities, the sun dynasty, and that you then became the moon dynasty and then Maya made you lose your honour and, from being worthy of worship made you into worshippers, impure. Human beings become elevated by following shrimat and then, by your following the dictates of Ravan, all your honour turns to dust. Now, by following Shiv Baba’s directions, you will become deities in the new world. Follow shrimat at every step. Gandhiji also wanted a new Bharat and a new kingdom. However, the golden age is called the new world. Here, day by day, sorrow continues to increase. Baba says: Sorrow has to increase. This is why I come. I come according to the promise I made and I teach you easy Raja Yoga once again. The scriptures are created later. The same Gita etc. will be created again. Now, everything will be destroyed in the flames of destruction. You know this cycle. You children have to go and explain in schools . Your history and geography is limited. That cannot be called world history and geography. Children should be taught the unlimited history and geography so that they can then claim a high status. Through limited history and geography you receive a limited status. This is unlimited. The knowledge of all three worlds is included in this. At the beginning, there are many souls living in the incorporeal world. By the end, all the souls have come down here. The parts of Brahma, Vishnu and Shankar, residents of the subtle region, exist at this time. So, you can ask people if they know that there used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in the golden age. What happened then? Was it the kingdom of just the one Lakshmi and Narayan till the end of the silver age? For how long did they rule and over how large an area did they rule? Now they have even partitioned the sky and the earth. These things do not exist there. There, there is the unlimited kingdom in Bharat; it has now been divided into so many pieces. It is not possible for all of them to become united and become one. The Father is now telling you the unlimited history and geography. The world history and geography is included in the cycle of 84 births. Together with this, purity is also definitely needed. There is now no purity, no peace and no prosperity. People think that they can receive peace by going to the sannyasis. The Father says: Peace is the garland around your neck. In fact, the original religion of oneself, a soul, is peace. Where do souls reside? They are said to reside in the land beyond sound (nirvana). Since the original religion of souls is peace, what peace are you going to receive from gurus etc? It is Maya that makes you peaceless. When you conquer Maya by following shrimat, you can receive your inheritance of purity, peace and happiness in the golden age. There, no one would say that he is peaceless or that he needs peace. There used to be purity, peace and happiness in Bharat alone. You have now changed from shudras into Brahmins. At this time, the people of Bharat don’t know which religion they belong to. Who created our religion and when? No one knows about the original eternal deity religion. There is Aryan and Non-Aryan. Deities are said to be gods and goddesses because God Himself established heaven. However, they are still called deities. The religion of Bharat is the original eternal deity religion, not the Hindu religion. The Father is explaining all of these things to you. This sits in the intellects of you children, numberwise. There are many children who hardly remember Shiv Baba even once in a whole week. Because of not having right company, they forget to remember Him. Here, you need the company of Brahmins who continue to caution one another. If you have the company of shudras, it will definitely affect you in some way. You should follow the Father in order to claim your full inheritance from Him. While doing your business, tell Baba the truth: Baba, this is how much I stayed in remembrance while interacting with others at the factory and at home etc. You should send your chart of remembrance to Baba so that Baba can understand that you are a good effort-maker. Here, some don’t even write a letter to BapDada. Baba understands that some make satopradhan effort, some make rajo effort and others make tamo effort. Those who are tamo effort-makers will go and serve those who become the sun dynasty. They will also become servants of wealthy subjects. An even lower status than that is received by those who belong to the Father, who are amazed by the knowledge as they listen to it, who relate it to others and then divorce the Father; their condition is the worst of all. If you want to claim your full inheritance, then send your chart to Baba so that Baba can give you the result. If you don’t make full effort, Maya will completely swallow you. This is why Baba says: The right company is essential. If you have the right company, you will understand that you belong to God’s clan. The Father explains: Husband and wife may live together. If fire breaks out, everything is finished. Baba has many children. Many will come and many will die. The Godly birth is higher than a devilish birth. Nowadays, many people celebrate their worldly birthdays. That should be cancelled and spiritual birthdays should be celebrated so that it becomes firm. Baba advises: Cancel celebrating your old birthday and celebrate your new birthday. Nowadays, they even celebrate their wedding anniversaries. That too should be cancelled. There have to be some changes. The Father tells you long-lost and now-found children: This is not anything new. You have lost your fortune of the kingdom many times and have then claimed it back again. Every cycle you sacrifice one birth to the Father and attain happiness for 21 births. Therefore, why should you not become pure? Baba, I will follow Your shrimat. You have been following devilish directions for half the cycle and so you have to remain very cautious here. The inheritance is very big; don’t even ask! When students fail their examinations at school, their faces grow pale. Here, a lot of punishment has to be experienced. Baba gives you visions of that: I, Myself, taught you and told you to follow shrimat and you didn’t obey Me. You committed such a crime that one hundred-fold punishment has accumulated because you created obstacles in the Father’s service. You have had the Father defamed. Those who follow shrimat will always be very sweet. If you become angry with someone, you can understand that you are following devilish dictates. Some think that Baba lost their honour in a gathering by saying something about them in front of everyone. Oh! but the unlimited Father is making everyone increase their honour. Baba has so many children. Would He explain to each one privately? The Father says everything in front of everyone. It is only by following the Father’s shrimat that you will become the most elevated of all. If you follow your own dictates you will fall. By falling, you will eventually die. Here, there is a pyre of worries. The Father is taking you to a place where there is no mention of worry. Therefore, you have to follow shrimat. Then you can become whatever you want. You need courage to be able to marry Shri Lakshmi. Look at your face in the mirror to see to what extent you are worthy. Continue to take knowledge for as long as you live. You are children of Jagadamba (World Mother). The praise of Mama is also the praise of you children. Jagadamba becomes the main one. There is also the rosary of 16,108. When they create a sacrificial fire, they make hundreds of thousands of saligrams and one image of Shiva. Therefore, surely all of those were helpers. All of you are those on the spiritual pilgrimage. You are the mouth-born creation of Brahma, the confluence-aged Brahmins. The Supreme Father, the Supreme Soul, creates a new creation through Brahma. He has adopted you children. You have converted from the shudra religion and become the mouth-born creation of Brahma. Maya is a great enemy. She doesn’t allow you to have yoga. Baba says: Never ask to be especially seated in yoga. If you instil the habit of especially sitting down in one place to have yoga, you won’t be able to have yoga while walking and moving around. You would then say: I will go and sit with a didi to have yoga. The Father says: Remember the Father and the inheritance while walking and moving around; that’s all! The people who relate the Gita cannot say this. Only the Father says: Constantly remember Me alone! You have had visions of heaven. Baba doesn’t make you do a lot now. Otherwise, new people would think that there is magic here. The song was about Mama’s praise. Even this one (Brahma) is a mama (mother). However, Jagadamba has been appointed to look after the mothers. It is fixed in the drama. She is the cleverest of all. The murli she conducts is very sweet and nourishing. You children know that Prince Shri Krishna has now become a beggar. (Looking at the picture of Shri Krishna). Tell me, what actions did you perform that you became a prince of heaven? You must definitely have studied Raja Yoga in your previous birth. Surely, the Father is the Creator of heaven, and so He must have taught you. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t become an obstacle in the Father’s service. Follow shrimat and become very, very sweet. Don’t be angry with anyone.
  2. In order to protect yourself from Maya, be very careful of the company you keep. Don’t keep the company of shudras. Give Baba your true account. Celebrate your Godly birthday, not your worldly birthday.
Blessing: May you be obstacle-proof and fly at a fast speed with the rocket of blessings.
Fill yourself with the treasure of blessings when coming into relationships with the Mother, the Father and everyone else and you will never have to work hard in your efforts. Just as in science, a rocket is the fastest, so at the confluence age, the instrument or the most elevated rocket with which to fly at the fastest speed is everyone’s blessings with which no obstacles can touch you. Through these blessings, you will become obstacle-proofand you will not have to battle.
Slogan: To become filled feelings of mercy for others is the basis of greatness.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 13/05/2017 :- Click Here

Font Resize