9 september ki murli

TODAY MURLI 9 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 9 September 2020

09/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, do everything with the power of yoga. There is no question of asking the Father about anything. You are the children of God, so don’t perform any devilish actions.
Question: What miracle does your power of yoga perform?
Answer: With this power of yoga you are able to control all your physical senses. Unless you have the power of yoga, you cannot become pure. It is with the power of yoga that the whole world becomes pure. Therefore, in order to become pure and make your food pure, stay on the pilgrimage of remembrance. Do everything tactfully, interact with everyone with humility.

Om shanti. The spiritual Father explains to the spiritual children. No one in the world knows how the spiritual Father comes and establishes the new world of heaven. No one knows this. You cannot ask the Father about anything. The Father explains everything to you. You don’t need to ask about anything. He continues to explain everything Himself. The Father says: I know what I have to come and do here, in the land of Bharat, every cycle. You don’t know this. He explains to you every day. Even if no one asks a question, He still continues to explain everything. Sometimes, children ask Baba what to do because they have difficulty about their food and drink. This is something to be understood. Baba has already told you to do everything with the power of yoga. Do everything while staying on the pilgrimage of remembrance. Wherever you go, the main thing is for you to definitely remember the Father and not to perform any devilish actions. We are the children of God and He is the Father of all. He gives the same teachings to everyone. The Father gives the teaching: Children, you have to become the masters of heaven. Even in a kingdom, there are different positions. Everyone’s status is according to the effort he makes. It is the children who have to make effort and the children who have to receive the reward. The Father comes to inspire you to make effort. You didn’t know anything about when the Father comes, what He does when He comes or where He takes you. According to the dramaplan, the Father Himself comes and explains where you had fallen from. You fell from the very top. It didn’t enter your intellects at all as to who you are. You now realise this, do you not? You never even dreamt what the Father would come and do. You didn’t know anything at all. You have now found the Father. You understand that you should sacrifice yourself to such a Father, just as a very loyal and faithful wife completely sacrifices herself to her husband. She isn’t even afraid to climb onto the funeral pyre; she is that courageous. Earlier, many of them would climb onto the funeral pyre. Here, Baba doesn’t give you any such difficulty. Although the term “the pyre of knowledge” is used, there is no question of burning yourself. The Father explains as simply as pulling a hair through butter. You children understand that there truly are the burdens of sins of many births on your heads. There isn’t just one Ajamil; every human being is more of an Ajamil than the next. Human beings don’t know what they did in their past birth. You now understand that you only committed sin. In fact, not a single soul is a charitable soul. All souls are sinful. If someone performs charity, he becomes a charitable soul. However, charitable souls only exist in the golden age. So what if someone built a hospital etc! He cannot escape coming down the ladder. He doesn’t go into the stage of ascending; he continues to descend. This Father is such a beloved that you say you sacrifice yourself to Him whilst alive because He is the Husband of all husbands, the Father of all fathers, the highest of all. The Father is now awakening you children. Such a Father, who is making you into the masters of heaven, is so ordinary! In the beginning, when daughters became ill, Baba, Himself, used to serve them. He doesn’t have any arrogance. BapDada is the Highest on High. He says: Whatever actions I perform, I perform them through this one or I inspire him to perform them. The two are like one. You can’t tell which acts the Father does and which ones Dada does. The Father Himself sits here and explains to you the philosophy of action, neutral action and sinful action. The Father is so elevated. There is also so much influence of Maya. God, the Father, says: Don’t do this! and yet some don’t listen to Him. God says: Sweet children, don’t do this! In spite of that, some children do wrong things. He only forbids you to perform wrong actions, but Maya is very powerful. Don’t forget the Father, even by mistake. We say, “No matter what You do to me, even if You beat me”, but the Father doesn’t actually do anything like that. However, this is said in extreme situations. There is also the song: I will never leave Your door, no matter what You say to me. What is there outside anyway? The intellect also says: Where else could I go? The Father gives you the kingdom which you will never receive at any other time. It isn’t that you can receive something in your next birth; no. That One is the parlokik Father who makes you into the masters of the unlimited land of happiness. You children also have to imbibe divine virtues. However, in regard to that, the Father also advises you: Do your duty as a policeman etc. Otherwise, you will be dismissed. You have to do your job; you have to show a stern eye sometimes. As much as possible, do everything with love. Otherwise, show a stern eye with tact. Don’t use your hands! Baba has so many children. Baba is also concerned about the children. The main thing is to remain pure. For birth after birth, you have been calling out: O Purifier, come and purify us! However, you didn’t understand the meaning of that at all. Since they call out, they must definitely be impure. Otherwise, there would be no need to call out to Him. There is no need to worship Him. The Father explains that there is so much assault on you innocent, weak ones. You have to tolerate that. Baba continues to show you many tactics. Continue to move along with great humility. Tell him: You are my god! So, what are you asking for? At the time of getting married, the bridegroom says: I am your husband, your god, and your guru! I am your everything! Therefore, now tell him: I want to remain pure, and so why are you stopping me? God is called the Purifier. You should be the one who purifies me. Speak with a lot of love and humility in this way. If he becomes angry, shower him with flowers. Sometimes, they beat their wives and then say they’re sorry. When someone drinks too much and becomes very intoxicated, he considers himself to be an emperor. This poison is such a thing, don’t even ask! They repent afterwards but, because they have developed the habit, it doesn’t break. They fall into vice once or twice and become intoxicated and then continue to fall. Just as intoxicating things bring souls happiness, so vice is also like that. You have to make a lot of effort here. Without the power of yoga, none of your physical senses can be controlled. This is the miracle of the power of yoga and this is why its name is very well known. People come from abroad to learn this yoga. They remain sitting in silence. They become distant from their homes and families. That is the artificial peace of half the cycle. No one knows about true peace. The Father says: Children, your original religion is peace. You do have to perform actions through your body. A soul remains peaceful until he adopts a body. Afterwards, that soul goes somewhere and enters another body. Here, some souls continue to stumble around in their subtle bodies. Those are bodies of light. Some souls cause a lot of sorrow and others are good souls. Here, too, there are some good human beings who don’t cause anyone sorrow. Others cause a lot of sorrow. Some are like saddhus and mahatmas (great souls). The Father says: O long-lost and now-found children, you have come once again to meet Me after 5000 years. What have you come here to receive? The Father has told you what you are going to receive. “Baba, there is no question of what we are going to receive from You. You are Heavenly God, the Father, the Creator of the new world. So, we will definitely receive the sovereignty from You”. The Father says: When someone understands even a little knowledge, he will definitely go to heaven. I have come to establish heaven. God and Prajapita Brahma are the greatest personalities of all. You know who Vishnu is. No one else knows this. You say: We belong to their clan. This Lakshmi and Narayan rule the kingdom in the golden age. This discus etc. doesn’t actually belong to Vishnu. These ornaments belong to us Brahmins. We have this knowledge at this time. None of these things are explained in the golden age. No one else has the power to explain such things. You now know the cycle of 84 births. No one else understands the meaning of it. The Father has explained this to you children. You children understand that these ornaments don’t seem right on us. We are still receiving teachings and making effort. We will then become like them. By spinning the discus of self-realisation, we will become deities. The discus of self-realisation means to know the Creator and the beginning, the middle and the end of creation. No one in the world can explain how the world cycle turns. The Father explains everything very easily. The duration of this cycle cannot be as long as they say. News of the world is related in terms of its human population. They don’t speak about the population of tortoises or fish; it only applies to human beings. People ask you questions. The Father explains everything; you simply have to pay full attention to this. Baba has explained that you make the world pure with the power of your yoga. Therefore, can you not purify your food with the power of yoga? Achcha. You have become like this; so do you make others become like yourselves? You children now understand that the Father has come to give you the sovereignty of heaven once again. Therefore, you mustn’t refuse Him. If you refuse the sovereignty of the world, everything is finished. You will then end up in the refuse. The whole world is rubbish. So that would be called refuse. Look at the condition of the world! You know that you are becoming the masters of the world. No one understands that there was just the one kingdom in the golden age. They don’t believe you. They have their pride and so they don’t listen to you at all. They say: All of that is your imagination. They say that bodies etc. have been created through imagination. They don’t understand the meaning at all. They simply say that this is the imagination of God, that everyone becomes what God wants them to become and that this is His play. They say such things, don’t even ask! You children know that the Father has now come. Even the old mothers say: Baba, we claim our inheritance of heaven from You every 5000 years. We have now come to claim the sovereignty of heaven. You know that all actors have their own parts. No two actors have the same part. You will make effort in the same name and form, at the same time, to claim your inheritance from the Father. There is such a huge income! Although Baba says that even if someone has heard just a little knowledge he will go to heaven; every human being makes effort to become elevated. Therefore, effort is first. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Just as Baba serves you children without any arrogance, so, follow the Father. Also follow the Father’s shrimat and claim the sovereignty of the world. Don’t refuse!
  2. Die alive and sacrifice yourself to the Father of all fathers and the Husband of all husbands who is the Highest on High and the most beloved. Sit on the pyre of knowledge. Don’t forget the Father, even by mistake and thereby perform wrong actions.
Blessing: May you be filled with jewels of experience by going into the depths of knowledge and becoming a master ocean of knowledge.
The children who go into the depths of knowledge become filled with the jewels of experience. One is to listen to knowledge and relate it to others and the other is to become an embodiment of experience. Those who are experienced always remain imperishable and free from obstacles; no one can shake them. Maya is not successful in anything she tries to do to those who are experienced. Those who are experienced are never deceived and so you must continue to increase your experiences and thereby become an embodiment of every virtue. With churning power, accumulate a stock of pure thoughts.
Slogan: An angel is one who is beyond any subtle arrogance of a body.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

09-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – हर बात में योग बल से काम लो, बाप से कुछ भी पूछने की बात नहीं है, तुम ईश्वरीय सन्तान हो इसलिए कोई भी आसुरी काम न करो”
प्रश्नः- तुम्हारे इस योगबल की करामात क्या है?
उत्तर:- यही योगबल है जिससे तुम्हारी सब कर्मेन्द्रियाँ वश हो जाती हैं। योग बल के सिवाए तुम पावन बन नहीं सकते। योगबल से ही सारी सृष्टि पावन बनती है इसलिए पावन बनने के लिए वा भोजन को शुद्ध बनाने के लिए याद की यात्रा में रहो। युक्ति से चलो। नम्रता से व्यवहार करो।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को समझाते हैं। दुनिया में किसको मालूम नहीं है कि रूहानी बाप आकर स्वर्ग की वा नई दुनिया की स्थापना कैसे करते हैं। कोई भी नहीं जानते हैं। तुम बाप से कोई भी प्रकार की मांगनी नहीं कर सकते हो। बाप सब कुछ समझाते हैं। कुछ भी पूछने की दरकार नहीं रहती, सब कुछ आपेही समझाते रहते हैं। बाप कहते हैं मुझे कल्प-कल्प इस भारत खण्ड में आकर क्या करना है, सो मैं जानता हूँ, तुम नहीं जानते। रोज़-रोज़ समझाते रहते हैं। कोई भल एक अक्षर भी न पूछे तो भी सब कुछ समझाते रहते हैं। कभी पूछते हैं खान-पान की तकलीफ होती है। अब यह तो समझ की बात है। बाबा ने कह दिया है हर बात में योगबल से काम लो, याद की यात्रा से काम लो और कहाँ भी जाओ तो मुख्य बात बाप को जरूर याद करना है। और कोई भी आसुरी काम नहीं करना है। हम ईश्वरीय सन्तान हैं वह है सबका बाप, सबके लिए शिक्षा यह एक ही देंगे। बाप शिक्षा देते हैं-बच्चे स्वर्ग का मालिक बनना है। राजाई में भी पोजीशन तो होती हैं ना। हर एक के पुरुषार्थ अनुसार मर्तबा होता है। पुरुषार्थ बच्चों को करना है और प्रारब्ध भी बच्चों को पानी है। पुरूषार्थ कराने लिए बाप आते हैं। तुमको कुछ भी पता नहीं था कि बाप कब आयेंगे, क्या आकर करेंगे, कहाँ ले जायेंगे। बाप ही आकर समझाते हैं, ड्रामा के प्लैन अनुसार तुम कहाँ से गिरे हो। एकदम ऊंच चोटी से। ज़रा भी बुद्धि में नहीं आता कि हम कौन हैं। अब महसूस करते हो ना। तुमको स्वप्न में भी नहीं था कि बाप आकर क्या करेंगे। तुम भी कुछ नहीं जानते थे। अब बाप मिला हुआ है तो समझते हो ऐसे बाप के ऊपर तो न्योछावर होना पड़े। जैसे पतिव्रता स्त्री होती है तो पति पर कितना न्योछावर जाती है। चिता पर चढ़ने में भी डर नहीं होता है। कितनी बहादुर होती है। आगे चिता पर बहुत चढ़ती थी। यहाँ बाबा तो ऐसी कोई तकलीफ नहीं देते हैं। भल नाम ज्ञान चिता है परन्तु जलने करने की कोई बात नहीं। बाप बिल्कुल ऐसे समझाते हैं जैसे मक्खन से बाल। बच्चे समझते हैं बरोबर जन्म-जन्मान्तर का सिर पर बोझा है। कोई एक अजामिल नहीं। हर एक मनुष्य एक-दो से जास्ती अजामिल हैं। मनुष्यों को क्या पता पास्ट जन्म में क्या-क्या किया है। अभी तुम समझते हो पाप ही किये हैं, वास्तव में पुण्य आत्मा एक भी नहीं है। सब हैं पाप आत्मायें। पुण्य करें तो पुण्य आत्मा बन जायें। पुण्य आत्मायें होती हैं सतयुग में। कोई ने हॉस्पिटल आदि बनाई सो क्या हुआ। सीढ़ी उतरने से थोड़ेही बच जायेगा। चढ़ती कला तो नहीं होती है ना। गिरते ही जाते हैं। यह बाप तो ऐसा बील्वेड है जिस पर कहते हैं जीते जी न्योछावर जायें क्योंकि पतियों का पति, बापों का बाप सबसे ऊंच है।

बच्चों को अभी बाप जगा रहे हैं। ऐसा बाबा जो स्वर्ग का मालिक बनाते हैं, कितना साधारण है। शुरू में बच्चियाँ जब बीमार पड़ती थी तो बाबा खुद उन्हों की सेवा करते थे। अहंकार कुछ भी नहीं। बापदादा ऊंच ते ऊंच है। कहते हैं जैसे कर्म मैं इनसे कराऊंगा, या करूंगा। दोनों जैसे एक हो जाते हैं। पता थोड़ेही पड़ता है। बाप क्या करते हैं, दादा क्या करते हैं। कर्म-अकर्म-विकर्म की गति बाप ही बैठकर समझाते हैं। बाप बहुत ऊंच है। माया का भी कितना प्रभाव है। ईश्वर बाप कहते हैं ऐसा मत करो तो भी नहीं मानते हैं। भगवान कहते हैं – मीठे बच्चे, यह काम नहीं करना, फिर भी उल्टा काम कर देते हैं। उल्टे काम के लिए ही मना करेंगे ना। लेकिन माया भी बड़ी जबरदस्त है। भूले-चूके भी बाप को नहीं भूलना है। कुछ भी करें, मारे अथवा कूटे। ऐसा कुछ बाप करते नहीं हैं परन्तु यह एक्स्ट्रीम में कहा जाता है। गीत भी है तुम्हारे दर को कभी नहीं छोड़ेंगे। चाहे कुछ भी कहो। बाहर में रखा ही क्या है। बुद्धि भी कहती हैं जायेंगे कहाँ? बाप बादशाही देते हैं फिर थोड़ेही कभी मिलती है। ऐसे थोड़ेही है दूसरे जन्म में कुछ मिल सकता है। नहीं। यह पारलौकिक बाप है जो बेहद सुखधाम का तुमको मालिक बनाते हैं। बच्चों को दैवीगुण भी धारण करने हैं, सो भी बाप राय देते हैं। अपना पुलिस आदि का काम भी करो, नहीं तो डिसमिस कर देंगे। अपना काम तो करना ही है, आंख दिखानी पड़ती है। जितना हो सके प्रेम से काम लो। नहीं तो युक्ति से आंख दिखाओ। हाथ नहीं चलाना है। बाबा के कितने ढेर बच्चे हैं। बाबा को भी बच्चों का ओना (ख्याल) रहता है ना। मूल बात है पवित्र रहना। जन्म जन्मान्तर तुमने पुकारा है ना – हे पतित-पावन आकर हमको पावन बनाओ। परन्तु अर्थ कुछ भी नहीं समझते। बुलाते हैं तो जरूर पतित हैं। नहीं तो बुलाने की दरकार नहीं। पूजा की भी दरकार नहीं। बाप समझाते हैं तुम अबलाओं पर कितने अत्याचार होते हैं, सहन करना ही है। युक्तियाँ भी बतलाते रहते हैं। बहुत नम्रता से चलो। बोलो, आप तो भगवान हो फिर यह क्या मांगते हो? हथियाला बांधते समय कहते हैं – मैं तुम्हारा पति ईश्वर गुरू सब कुछ हूँ, अब मैं पवित्र रहना चाहती हूँ, तो तुम रोकते क्यों हो। भगवान को तो पतित-पावन कहा जाता है ना। आप ही पावन बनाने वाले बन जाओ। ऐसे प्यार से नम्रता से बात करनी चाहिए। क्रोध करे तो फूलों की वर्षा करो। मारते हैं फिर अफसोस भी करते हैं। जैसे शराब पीते हैं तो बड़ा नशा चढ़ जाता है। अपने को बादशाह समझते हैं। तो यह विष भी ऐसी चीज़ है बात मत पूछो। पछताते भी हैं परन्तु आदत पड़ी है तो वह टूटती नहीं है। एक-दो बार विकार में गया, बस नशा चढ़ा फिर गिरते रहेंगे। जैसे नशे की चीज़ें खुशी में लाती हैं, विकार भी ऐसे हैं। यहाँ फिर बड़ी मेहनत है। सिवाए योगबल के कोई भी कर्मेन्द्रियों को वश नहीं कर सकते। योगबल की ही करामात है, तब तो नाम मशहूर है, बाहर से आते हैं यहाँ योग सीखने। शान्ति में बैठे रहेंगे। घरबार से दूर हो जाते हैं। वह तो है आधाकल्प के लिए आर्टीफीशियल शान्ति। किसको सच्ची शान्ति का मालूम ही नहीं। बाप कहते हैं बच्चे, तुम्हारा स्वधर्म ही है शान्त, इस शरीर से तुम कर्म करते हो। जब तक शरीर धारण न करे तब तक आत्मा शान्त रहती है। फिर कहाँ न कहाँ जाकर प्रवेश करती है। यहाँ तो फिर कोई-कोई सूक्ष्म शरीर से धक्के खाती रहती है। वह छाया के शरीर होते हैं, कोई दु:ख देने वाले होते हैं, कोई अच्छे होते हैं, यहाँ भी कोई भले मनुष्य होते हैं जो किसको दु:ख नहीं देते हैं। कोई तो बहुत दु:ख देते हैं। कोई जैसे साधू महात्मा होते हैं।

बाप समझाते हैं मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों तुम 5 हज़ार वर्ष के बाद फिर से आकर मिले हो। क्या लेने लिए? बाप ने बताया है तुमको क्या मिलने का है। बाबा आपसे क्या मिलना है, यह तो प्रश्न ही नहीं। आप तो हो ही हेविनली गॉड फादर। नई दुनिया के रचयिता। तो जरूर आपसे बादशाही ही मिलेगी। बाप कहते हैं थोड़ा भी कुछ समझकर जाते हैं तो स्वर्ग में जरूर आ जायेंगे। हम स्वर्ग की स्थापना करने आये हैं। बड़े से बड़ा आसामी है भगवान और प्रजापिता ब्रह्मा। तुम जानते हो विष्णु कौन है? और कोई को भी पता नहीं है। तुम तो कहेंगे हम इनके घराने के हैं, यह लक्ष्मी-नारायण तो सतयुग में राज्य करते हैं। यह चक्र आदि वास्तव में विष्णु को थोड़ेही है। यह अलंकार हम ब्राह्मणों के हैं। अभी यह नॉलेज है। सतयुग में थोड़ेही यह समझायेंगे। ऐसी बातें बताने की कोई में ताकत नहीं है। तुम इस 84 के चक्र को जानते हो। इनका अर्थ कोई समझ न सके। बच्चों को बाप ने समझाया है। बच्चे समझ गये हैं, हमको तो यह अलंकार शोभते नहीं। हम अभी शिक्षा पा रहे हैं। पुरूषार्थ कर रहे हैं। फिर ऐसे बन जायेंगे। स्वदर्शन चक्र फिराते-फिराते हम देवता बन जायेंगे। स्वदर्शन चक्र अर्थात् रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानना है। सारी दुनिया में कोई भी यह समझा नहीं सकते कि यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। बाप कितना सहज कर समझाते हैं-इस चक्र की आयु इतनी बड़ी तो हो नहीं सकती। मनुष्य सृष्टि का ही समाचार सुनाया जाता है कि इतने मनुष्य हैं। ऐसे थोड़ेही बताया जाता है कि कुछए कितने हैं, मछलियाँ आदि कितनी हैं, मनुष्यों की ही बात है। तुमसे भी प्रश्न पूछते हैं, बाप सब कुछ बतलाते रहते हैं। सिर्फ उस पर पूरा ध्यान देना है।

बाबा ने समझाया है – योगबल से तुम सृष्टि को पावन बनाते हो तो क्या योगबल से खाना शुद्ध नहीं हो सकता है? अच्छा, तुम तो ऐसे बने हो। फिर कोई को आप समान बनाते हो? अभी तुम बच्चे समझते हो कि बाप आया है स्वर्ग की बादशाही फिर से देने। तो इनको रिफ्यूज़ नहीं करना है। विश्व की बादशाही रिफ्यूज़ की तो खत्म। फिर रिफ्यूज़ (किचड़े के डिब्बे) में जाकर पड़ेंगे। यह सारी दुनिया है किचड़ा। तो इनको रिफ्यूज़ ही कहेंगे। दुनिया का हाल देखो क्या है। तुम तो जानते हो हम विश्व के मालिक बनते हैं। यह किसको पता नहीं है कि सतयुग में एक ही राज्य था, मानेंगे नहीं। अपना घमण्ड रहता है तो फिर ज़रा भी सुनते नहीं, कह देते यह सब आपकी कल्पना है। कल्पना से ही यह शरीर आदि बना हुआ है। अर्थ कुछ नहीं समझते। बस यह ईश्वर की कल्पना है, ईश्वर जो चाहे सो बनते हैं, उनका यह खेल है। ऐसी बातें करते हैं, बात मत पूछो। अभी तुम बच्चे जानते हो बाबा आया हुआ है। बुढ़ियाँ भी कहती हैं – बाबा हर 5 हज़ार वर्ष के बाद हम आपसे स्वर्ग का वर्सा लेते हैं। हम अभी आये हैं स्वर्ग की राजाई लेने। तुम जानते हो कि सभी एक्टर्स का अपना पार्ट है। एक का पार्ट न मिले दूसरे से। तुम फिर इसी ही नाम रूप में आकर इसी समय बाप से वर्सा लेने का पुरूषार्थ करेंगे। कितनी अथाह कमाई है। भल बाबा कहते हैं थोड़ा भी सुना है तो स्वर्ग में आ जायेंगे। परन्तु हर एक मनुष्य पुरूषार्थ तो ऊंच बनने का ही करते हैं ना। तो पुरूषार्थ है फर्स्ट। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जैसे बाबा बच्चों की सेवा करते हैं, कोई अहंकार नहीं, ऐसे फालो करना है। बाप की श्रीमत पर चलकर विश्व की बादशाही लेनी है, रिफ्यूज़ नहीं करनी है।

2) बापों का बाप, पतियों का पति जो सबसे ऊंच है, बील्वेड है उस पर जीते जी न्योछावर जाना है। ज्ञान-चिता पर बैठना है। कभी भूले चूके भी बाप को भूल उल्टा काम नहीं करना है।

वरदान:- मास्टर ज्ञान सागर बन ज्ञान की गहराई में जाने वाले अनुभव रूपी रत्नों से सम्पन्न भव
जो बच्चे ज्ञान की गहराई में जाते हैं वे अनुभव रूपी रत्नों से सम्पन्न बनते हैं। एक है ज्ञान सुनना और सुनाना, दूसरा है अनुभवी मूर्त बनना। अनुभवी सदा अविनाशी और निर्विघ्न रहते हैं। उन्हें कोई भी हिला नहीं सकता। अनुभवी के आगे माया की कोई भी कोशिश सफल नहीं होती। अनुभवी कभी धोखा नहीं खा सकते इसलिए अनुभवों को बढ़ाते हुए हर गुण के अनुभवी मूर्त बनो। मनन शक्ति द्वारा शुद्ध संकल्पों का स्टॉक जमा करो।
स्लोगन:- फरिश्ता वह है जो देह के सूक्ष्म अभिमान के सम्बन्ध से भी न्यारा है।

 

TODAY MURLI 9 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 9 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 8 September 2019:- Click Here

09/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Brahmins are the topknot and shudras are the feet. When you become Brahmins from shudras, you can then become deities.
Question: What pure feelings do you have, feelings which that people oppose?
Answer: Your pure feelings are that this old world should end and the new world be established. For this, you say that the destruction of this old world is about to take place. However, people oppose even this.
Question: What is the main law of this Court of Indra?
Answer: No impure shudra can be brought into this gathering of the Court of Indra. If anyone brings someone impure here, that one also accumulates sin.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. You spiritual children know that you are once again establishing your deity kingdom for yourselves because you are Brahma Kumars and Kumaris. Only you know this. However, Maya still makes you forget this. You wish to become deities, and so Maya makes you into shudras from Brahmins. Because of not remembering Shiv Baba, Brahmins become shudras. You children know that you are establishing your own kingdom. When the kingdom is established, this old world will not remain. Everyone is sent to the land of peace from this world. These are your pure feelings. However, when you say that this world is about to be destroyed, people will definitely oppose you. They say: What are these Brahma Kumaris saying? They continually speak of destruction. You know that only in this destruction will there be benefit for Bharat in particular and the world in general. People of the world do not know this. When destruction takes place, everyone will go to the land of liberation. You now belong to the Godly community. Previously, you belonged to the devilish community. God Himself says to you: Constantly remember Me alone. The Father knows that no one can remain in constant remembrance. If anyone were to be in constant remembrance, his sins would be absolved and he would then reach his karmateet stage. At present, all are effort-makers. Only those who become Brahmins will become deities. From being Brahmins they will become deities. The Father has explained that Brahmins are the topknot. When children do a somersault, first is the head, the topknot. Brahmins always have a topknot. You are Brahmins. Previously, you were shudras, that is, you were the feet. You have now become Brahmins, the topknot, and you will then become deities. The face is said to represent the deities, the arms are the warriors, the stomach is the merchants and the feet are the shudras. Shudras means those with shudra intellects, degraded intellects. Those who don’t know the Father are said to have degraded intellects. In fact, they continue to defame the Father even more. This is why the Father says: Whenever there is defamation in Bharat, I come. The Father only speaks to those who are the people of Bharat. Wherever there is extreme irreligiousness…, the Father comes in Bharat alone. He doesn’t come anywhere else. Bharat alone is the imperishable land. The Father is also imperishable. He never enters the cycle of birth and death. The Father sits here and gives this knowledge to only you imperishable souls. This body is perishable. You have now shed the consciousness of bodies and have begun to consider yourselves to be souls. The Father has explained: During the festival of Holi, when they cook a “koki” (sweet chappati with a thread through it), the koki gets burnt, but the thread doesn’t. The soul can never be destroyed. That example is based on this. Human beings do not know that souls are imperishable. They say that souls are immune to the effect of action. The Father says: No, it is souls that perform good and bad acts through their bodies. Souls shed their bodies and take others and suffer for their acts. So, souls carry those karmic accounts. This is why people in the devilish world experience a lot of sorrow. Their lifespan are short, but people also consider all of that sorrow to be happiness. You children tell them so much to become viceless, but, nevertheless, they say that they cannot stay without poison. This is because they are the shudra community; they have shudra intellects. You have become Brahmins, the topknot. The topknot is the highest of all; it is even higher than the deities. At this time you are even higher than the deities because you are with the Father. The Father is teaching you at this time. The Father has become your obedient Servant. A father is the obedient servant of his children. He creates children, takes care of them and educates them. Then, when the children have grown up and he has become old, he gives all his property to his children: he adopts a guru and steps aside, he goes into the stage of retirement. He adopts a guru in order to go to the land of liberation. However, he cannot go to the land of liberation. Parents take care of their children. For instance, if the mother falls ill, then the father has to clean the child. Therefore, the parents are the servants of the children. They give all their property to their children. The unlimited Father says: When I come, I do not go to little children. All of you are grown up. I sit here and give you teachings. When you become Shiv Baba’s children, you are called BKs. Prior to that, you were shudra kumars and kumaris; you were in the brothel. At present, you are not residents of the brothel. No vicious beings can stay here; they don’t have a right. You are BKs. This place is for BKs to stay in. Some children are very foolish and they don’t understand that those who are impure and indulge in vice are called shudras and that they don’t have a right to stay here; they cannot come here. There is the story of the Court of Indra. This is the Court of Indra where there is the rain of knowledge. If any BK secretly brings an impure person to sit in this gathering, then both of them are cursed: May you turn to stone! This is the true Court of Indra. This is not a spiritual gathering of shudra kumars and kumaris. Deities are pure whereas shudras are impure. The Father comes and makes impure ones into pure deities. You are now becoming pure from impure. So, this is the Court of Indra. If someone brings a vicious person without permission, he receives a lot of punishment and becomes one with a stone intellect. You are becoming those with divine intellects here. So, those who bring such people are also cursed: Why did you secretly bring a vicious person here? You didn’t even ask Indra (the Father). Therefore, so much punishment is received. These are incognito matters. You are now becoming deities. The laws are very strict. They fall in their stage and they completely turn to stone. They have stone intellects and they don’t even make effort to become those with divine intellects. These matters are incognito and only you children can understand them. BKs stay here and it is the Father who makes them into deities, that is, He makes those with stone intellects into those with divine intellects. The Father explains to you sweetest children: No one should break any laws. Otherwise, they will be caught by the five vices – lust, anger, greed, attachment and ego. These are the five big evil spirits of half the cycle. You have come here to chase away the evil spirits. Souls that were pure and clean have become impure, unclean, unhappy and diseased. There is a lot of sorrow in this world. The Father comes and rains the rain of knowledge. He only does that through you children. He is creating heaven for you. You alone become deities with the power of yoga. The Father doesn’t become that Himself. The Father is the Servant. A teacher is also a servant of the students. He serves them and educates them. The Teacher says: I am your most obedient Servant. Other teachers make them into barristersengineers etc., and so they are servants. In the same way, gurus too show the path. They become servants and do the service of taking souls to the land of liberation. However, none of those gurus can take anyone there, because they themselves are impure. Only the one Satguru is ever pure. All the gurus themselves are also impure. This whole world is impure. The golden age is called the pure world and the iron age is called the impure world. Only the golden age is said to be full heaven. It is two degrees less in the silver age. You children understand these things and imbibe them. People of the world do not know anything. It isn’t that the whole world will go to heaven. The people of Bharat who were there in the previous cycle will come once again and become deities in the golden and silver ages. Then, in the copper age, they will begin to call themselves Hindus. In fact, even until now, the souls who come down from up above into the Hindu religion also call themselves Hindus. However, they neither become deities, nor do they go to heaven. They will come down at their own time after the copper age begins and will call themselves Hindus. Only you, who have parts from the beginning to the end, become deities. This is a very big tactic in the drama. This doesn’t sit in the intellects of many and so they are unable to claim a high status. This is the story of the true Narayan. Those people tell false stories. No one becomes Lakshmi or Narayan through them. You become that in a practical way here. In the iron age, there is nothing but falsehood. It is said: Maya is false, the body is false…. The kingdom of Ravan is falsehood. The Father is creating the land of truth. Only you Brahmin children know this. However, you also know it numberwise, according to the effort you make, because this is a study. Those who study very little will fail. This study only takes place once. Later, it will be difficult to study. Those who studied in the beginning and then departed having shed their bodies took those sanskars with them. So, they must have come here again and would be studying. However, their names and forms have changed. It is souls that receive whole parts of 84 births which they play through their various names, forms, time periods and places. Such tiny souls receive such big bodies. There is a soul in every being. Such a tiny soul also exists in a tiny mosquito too. All of these are very subtle matters that have to be understood. Only the children who understand these things well will become beads of the rosary. The rest will claim a status worth a few pennies. Your flower garden is now being created. Previously, you were thorns. The Father says: The thorn of the vice of lust is very bad. It causes sorrow from its beginning through the middle to the end. The main reason for sorrow is lust. Only by conquering lust will you become conquerors of the world, and it is this that many people find difficult. It is with great difficulty that they become pure. Those who became pure in the previous cycle will become pure again. It is understood who make effort and who will become the highest-on-high deities. You change from an ordinary man into Narayan and from an ordinary woman into Lakshmi. In the new world, both husband and wife are pure; they are now impure. When they were pure, they were satopradhan. They have now become tamopradhan. Both have to make effort here. Sannyasis cannot give this knowledge. That religion of the path of isolation is totally separate. God teaches both men and women here. He says to both: Now, change from shudras into Brahmins and then become Lakshmi and Narayan. Not everyone will become that. There is also the dynasty of Lakshmi and Narayan. No one knows how they claimed their kingdom. It was their kingdom in the golden age. People understand this, but it has been said that the golden age is hundreds of thousands of years, and so that is ignorance. The Father says: This is a forest of thorns whereas that is a garden of flowers. Before coming here, you were devils and, from devils, you are now becoming deities. Who is making you into those? The unlimited Father. When it was the kingdom of deities, there was no one else there. Only you understand this. Those who don’t understand are said to be impure. This is the gathering of the Brahma Kumars and Kumaris. If people do anything devilish, they curse themselves and they become those with stone intellects. They are not those with golden intellects, those who become Narayan from an ordinary man. They receive proof of this. They will then go and become third grade maids and servants. Even now, kings have maids and servants. It is remembered that some people’s wealth remained buried in the ground…. There will be incendiary bombs and poison gas bombs too. Death definitely has to come. They are preparing such things that there will be no need for human beings or weapons. From where they sit, they will be able to release the bombs and they will spread poison in such a way that it will quickly finish everyone off. So many millions of people will die. This is not a small thing. In the golden age, there are so few people. All the rest will have gone to the land of peace which is the residence of us souls. Heaven is in the golden age and hell is in this iron age. This cycle continues to turn. By becoming impure, this becomes the land of sorrow. The Father then takes you to the land of happiness. The Supreme Father, the Supreme Soul, is now granting salvation to everyone, and so there should be happiness. People are afraid, but they don’t understand that by dying they will receive liberation and salvation. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to go to the flower garden, remove the thorns of lust and anger that are inside you. Do not perform any such actions that would have you cursed.
  2. In order to become the masters of the land of truth, listen to and tell others the true story of the true Narayan. Step away from this land of falsehood.
Blessing: May you become a conqueror of Maya by finishing all the spinning of Maya with the discus of self-realisation.
To know oneself means to have a vision of oneself and to know the knowledge of the cycle means to be a spinner of the discus of self-realisation. When you become a spinner of the discus of self-realisation, the spinning of Maya automatically finishes. The spinning of body consciousness, the spinning of relationships, the spinning of problems are the many spins of Maya. For 63 births you have continued to be trapped in this much spinning. Now, by becoming a spinner of the discus of self-realisation, you can become a conqueror of Maya. To be a spinner of the discus of self-realisation means to go into the flying stage with the wings of knowledge and yoga.
Slogan: Stay in the bodiless stage and any adverse situations will easily be overcome.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 September 2019

To Read Murli 8 September 2019:- Click Here
09-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ब्राह्मण हैं चोटी और शूद्र हैं पांव, जब शूद्र से ब्राह्मण बनें तब देवता बन सकेंगे”
प्रश्नः- तुम्हारी शुभ भावना कौन-सी है, जिसका भी मनुष्य विरोध करते हैं?
उत्तर:- तुम्हारी शुभ भावना है कि यह पुरानी दुनिया खत्म हो नई दुनिया स्थापन हो जाए इसके लिए तुम कहते हो कि यह पुरानी दुनिया अब विनाश हुई कि हुई। इसका भी मनुष्य विरोध करते हैं।
प्रश्नः- इस इन्द्रप्रस्थ का मुख्य कायदा क्या है?
उत्तर:- कोई भी पतित शूद्र को इस इन्द्रप्रस्थ की सभा में नहीं ला सकते। अगर कोई ले आते हैं तो उस पर भी पाप लग जाता है।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप बैठ समझाते हैं। रूहानी बच्चे जानते हैं हम अपने लिए अपना दैवी राज्य फिर से स्थापन कर रहे हैं क्योंकि तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियां हो, तुम ही जानते हो। परन्तु माया तुम्हें भी भुला देती है। तुम देवता बनना चाहते हो तो माया तुमको ब्राह्मण से शूद्र बना देती है। शिवबाबा को याद न करने से ब्राह्मण शूद्र बन जाते हैं। बच्चों को यह मालूम है कि हम अपना राज्य स्थापन कर रहे हैं। जब राज्य स्थापन हो जायेगा फिर यह पुरानी सृष्टि नहीं रहेगी। सबको इस विश्व से शान्तिधाम में भेज देते हैं। यह है तुम्हारी भावना। परन्तु तुम जो कहते हो यह दुनिया खत्म हो जानी है तो जरूर लोग विरोध करेंगे ना। कहेंगे कि ब्रह्माकुमारियां यह फिर क्या कहती हैं। विनाश, विनाश ही कहती रहती हैं। तुम जानते हो इस विनाश में ही खास भारत और आम दुनिया की भलाई है। यह बात दुनिया वाले नहीं जानते। विनाश होगा तो सब चले जायेंगे मुक्तिधाम। अभी तुम ईश्वरीय सम्प्रदाय के बने हो। पहले आसुरी सम्प्रदाय के थे। तुमको ईश्वर खुद कहते हैं मामेकम् याद करो। यह तो बाप जानते हैं सदैव याद में कोई रह न सके। सदैव याद रहे तो विकर्म विनाश हो जाएं फिर तो कर्मातीत अवस्था हो जाए। अभी तो सब पुरूषार्थी हैं। जो ब्राह्मण बनेंगे वही देवता बनेंगे। ब्राह्मणों के बाद हैं देवतायें। बाप ने समझाया है ब्राह्मण हैं चोटी। जैसे बच्चे बाजोली खेलते हैं – पहले आता है माथा चोटी। ब्राह्मणों को हमेशा चोटी होती है। तुम हो ब्राह्मण। पहले शूद्र अर्थात् पैर थे। अभी बने हो ब्राह्मण चोटी फिर देवता बनेंगे। देवता कहते हैं मुख को, क्षत्रिय भुजाओं को, वैश्य पेट को, शूद्र पैर को। शूद्र अर्थात् क्षुद्र बुद्धि, तुच्छ बुद्धि। तुच्छ बुद्धि उनको कहते हैं जो बाप को नहीं जानते और ही बाप की ग्लानि करते रहते हैं। तब बाप कहते हैं जब-जब भारत में ग्लानि होती है, मैं आता हूँ। जो भारतवासी हैं बाप उन्हों से ही बात करते हैं। यदा यदाहि धर्मस्य….. बाप आते भी हैं भारत में। और कोई जगह आते ही नहीं। भारत ही अविनाशी खण्ड है। बाप भी अविनाशी है। वह कभी जन्म-मरण में नहीं आते। बाप अविनाशी आत्माओं को ही बैठ सुनाते हैं। यह शरीर तो है विनाशी। अभी तुम शरीर का भान छोड़कर अपने को आत्मा समझने लगे हो। बाप ने समझाया था कि होली पर कोकी पकाते हैं तो कोकी सारी जल जाती है, धागा नहीं जलता। आत्मा कभी विनाश नहीं होती है। इस पर ही यह मिसाल है। यह कोई भी मनुष्य मात्र को मालूम नहीं कि आत्मा अविनाशी है। वह तो कह देते आत्मा निर्लेप है। बाप कहते हैं – नहीं, आत्मा ही अच्छा वा बुरा कर्म करती है इस शरीर द्वारा। एक शरीर छोड़ फिर दूसरा लेती है और कर्मभोग भोगती है, तो वह हिसाब-किताब ले आई ना, इसलिए आसुरी दुनिया में मनुष्य अपार दु:ख भोगते हैं। आयु भी कम रहती है परन्तु मनुष्य इन दु:खों को भी सुख समझ बैठे हैं। तुम बच्चे कितना कहते हो निर्विकारी बनो फिर भी कहते हैं विष बिगर हम रह नहीं सकते हैं क्योंकि शूद्र सम्प्रदाय हैं ना। क्षुद्र बुद्धि हैं। तुम बने हो ब्राह्मण चोटी। चोटी तो सबसे ऊंच है। देवताओं से भी ऊंच है। तुम इस समय देवताओं से भी ऊंच हो क्योंकि बाप के साथ हो। बाप इस समय तुमको पढ़ाते हैं। बाप ओबीडियन्ट सर्वेन्ट बना है ना। बाप बच्चों का ओबीडियन्ट सर्वेन्ट होता है ना। बच्चे को पैदा कर, सम्भाल कर, पढ़ाकर फिर बड़ा कर जब बुढ़े होते हैं तो सारी मिलकियत बच्चे को देकर खुद गुरू कर किनारे जाकर बैठते हैं। वानप्रस्थी बन जाते हैं। मुक्तिधाम जाने के लिए गुरू करते हैं। परन्तु वह मुक्तिधाम में तो जा न सकें। तो माँ-बाप बच्चों की सम्भाल करते हैं। समझो माँ बीमार पड़ती है, बच्चे टट्टी कर देते हैं तो बाप को उठानी पड़े ना। तो माँ-बाप बच्चे के सर्वेन्ट ठहरे ना। सारी मिलकियत बच्चों को दे देते हैं। बेहद का बाप भी कहते हैं मैं जब आता हूँ तो कोई छोटे बच्चों के पास नहीं आता हूँ। तुम तो बड़े हो ना। तुमको बैठ शिक्षा देते हैं। तुम शिवबाबा के बच्चे बनते हो तो बी.के. कहलाते हो। उनसे पहले शूद्र कुमार-कुमारी थे, वेश्यालय में थे। अभी तुम वेश्यालय में रहने वाले नहीं हो। यहाँ कोई विकारी रह न सकें। हुक्म नहीं। तुम हो बी.के.। यह स्थान है ही बी.के. के रहने लिए। कोई-कोई बहुत अनाड़ी बच्चे हैं जो यह समझते नहीं कि शूद्र कहा जाता है पतित विकार में जाने वाले को, उन्हों को यहाँ रहने का हुक्म नहीं, आ नहीं सकते। इन्द्र सभा की बात है ना। इन्द्रसभा तो यह है, जहाँ ज्ञान वर्षा होती है। कोई बी.के. ने अपवित्र को छिपाकर सभा में बिठाया तो दोनों को श्राप मिल गया कि पत्थर बन जाओ। सच्चा-सच्चा यह इन्द्रप्रस्थ है ना। यह कोई शूद्र कुमार-कुमारियों का सतसंग नहीं है। पवित्र होते हैं देवतायें, पतित होते हैं शूद्र। पतितों को बाप आकर पावन देवता बनाते हैं। अभी तुम पतित से पावन बन रहे हो। तो यह हो गई इन्द्र सभा। अगर बिगर पूछे कोई विकारी को ले आते हैं तो बहुत सज़ा मिल जाती है। पत्थरबुद्धि बन जाते हैं। यहाँ पारस बुद्धि बन रहे हो ना। तो उनको जो ले आते हैं, उनको भी श्राप मिल जाता है। तुम विकारियों को छिपाकर क्यों ले आई? इन्द्र (बाप) से पूछा भी नहीं। तो कितनी सजा मिलती है। यह हैं गुप्त बातें। अभी तुम देवता बन रहे हो। बड़े कड़े कायदे हैं। अवस्था ही गिर पड़ती है। एकदम पत्थरबुद्धि बन पड़ते हैं। हैं भी पत्थरबुद्धि। पारसबुद्धि बनने का पुरूषार्थ ही नहीं करते। यह गुप्त बातें हैं जो तुम बच्चे ही समझ सकते हो। यहाँ बी.के. रहते हैं, उन्हों को देवता अर्थात् पत्थरबुद्धि से पारसबुद्धि बाप बना रहे हैं।

बाप मीठे-मीठे बच्चों को समझाते हैं – कोई भी कायदा न तोड़े। नहीं तो उन्हें 5 भूत पकड़ लेंगे। काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार – यह 5 बड़े-बड़े भूत हैं, आधाकल्प के। तुम यहाँ भूतों को भगाने आये हो। आत्मा जो शुद्ध पवित्र थी वह अपवित्र, अशुद्ध, दु:खी, रोगी बन गई है। इस दुनिया में अथाह दु:ख हैं। बाप आकर ज्ञान वर्षा करते हैं। तुम बच्चों द्वारा ही करते हैं। तुम्हारे लिए स्वर्ग रचते हैं। तुम ही योगबल से देवता बनते हो। बाप खुद नहीं बनते हैं। बाप तो है सर्वेन्ट। टीचर भी स्टूडेन्ट का सर्वेन्ट होता है। सेवा कर पढ़ाते हैं। टीचर कहते हैं हम तुम्हारा मोस्ट ओबीडियन्ट सर्वेन्ट हूँ। कोई को बैरिस्टर, इन्जीनियर आदि बनाते हैं तो सर्वेन्ट हुआ ना। वैसे ही गुरू लोग भी रास्ता बताते हैं। सर्वेन्ट बन मुक्तिधाम ले जाने की सेवा करते हैं। परन्तु आजकल तो गुरू कोई ले नहीं जा सकते हैं क्योंकि वह भी पतित हैं। एक ही सतगुरू सदा पवित्र है बाकी गुरू लोग भी सब पतित हैं। यह दुनिया ही सारी पतित है। पावन दुनिया कहा जाता है सतयुग को, पतित दुनिया कहा जाता है कलियुग को। सतयुग को ही पूरा स्वर्ग कहेंगे। त्रेता में दो कला कम हो जाती हैं। यह बातें तुम बच्चे ही समझकर और धारण करते हो। दुनिया के मनुष्य तो कुछ नहीं जानते। ऐसे भी नहीं, सारी दुनिया स्वर्ग में जायेगी। जो कल्प पहले थे, वही भारतवासी फिर आयेंगे और सतयुग-त्रेता में देवता बनेंगे। वही फिर द्वापर से अपने को हिन्दू कहलायेंगे। यूँ तो हिन्दू धर्म में अब तक भी जो आत्मायें ऊपर से उतरती हैं, वह भी अपने को हिन्दू कहलाती हैं लेकिन वह तो देवता नहीं बनेंगी और ना ही स्वर्ग में आयेंगी। वह फिर भी द्वापर के बाद अपने समय पर उतरेंगी और अपने को हिन्दू कहलायेंगी। देवता तो तुम ही बनते हो, जिनका आदि से अन्त तक पार्ट है। यह ड्रामा में बड़ी युक्ति है। बहुतों की बुद्धि में नहीं बैठता है तो ऊंच पद भी नहीं पा सकते हैं।

यह है सत्य नारायण की कथा। वह तो झूठी कथा सुनाते हैं, उससे कोई लक्ष्मी वा नारायण बनते थोड़ेही हैं। यहाँ तुम प्रैक्टिकल में बनते हो, कलियुग में है ही सब झूठ। झूठी माया……. रावण का राज्य है ही झूठ। सच खण्ड बाप बनाते हैं। यह भी तुम ब्राह्मण बच्चे जानते हो, सो भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार क्योंकि पढ़ाई है, कोई बहुत थोड़ा पढ़ते हैं तो फेल हो पड़ते हैं। यह तो एक ही बार पढ़ाई हो सकती है। फिर तो पढ़ना मुश्किल हो जायेगा। शुरू में जो पढ़कर शरीर छोड़कर गये हैं तो संस्कार वह लेकर गये हैं। फिर आकर पढ़ते होंगे। नाम-रूप तो बदल जाता है। आत्मा को ही सारा 84 का पार्ट मिला हुआ है, जो भिन्न-भिन्न नाम, रूप, देश, काल में पार्ट बजाती है। इतनी छोटी आत्मा उनको कितना बड़ा शरीर मिलता है। आत्मा तो सबमें होती है ना। इतनी छोटी आत्मा इतने छोटे मच्छर में भी है। यह सब बहुत सूक्ष्म समझने की बातें हैं। जो बच्चे यह अच्छी रीति समझते हैं वही माला का दाना बनते हैं। बाकी तो जाकर पाई पैसे का पद पायेंगे। अभी तुम्हारा यह फूलों का बगीचा बन रहा है। पहले तुम कांटे थे। बाप कहते हैं काम विकार का कांटा बड़ा खराब है। यह आदि, मध्य, अन्त दु:ख देता है। दु:ख का मूल कारण ही है काम। काम को जीतने से ही जगतजीत बनेंगे, इसमें ही बहुतों को मुश्किलातें फील होती हैं। बड़ा मुश्किल पवित्र बनते हैं। जो कल्प पहले बने थे वही बनेंगे। समझा जाता है कौन पुरूषार्थ कर ऊंच ते ऊंच देवता बनेंगे। नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनते हैं ना। नई दुनिया में स्त्री-पुरूष दोनों पावन थे। अब पतित हैं। पावन थे तो सतोप्रधान थे। अभी तमोप्रधान बन गये हैं। यहाँ दोनों को पुरूषार्थ करना है। यह ज्ञान सन्यासी दे नहीं सकते। वह धर्म ही अलग है, निवृत्ति मार्ग का। यहाँ भगवान तो स्त्री-पुरूष दोनों को पढ़ाते हैं। दोनों को कहते हैं अब शूद्र से ब्राह्मण बनकर फिर लक्ष्मी-नारायण बनना है। सब तो नहीं बनेंगे। लक्ष्मी-नारायण की भी डिनायस्टी होती है। उन्हों ने राज्य कैसे लिया – यह कोई नहीं जानते हैं। सतयुग में इनका राज्य था, यह भी समझते हैं परन्तु सतयुग को फिर लाखों वर्ष दे दिया है तो यह अज्ञानता हुई ना। बाप कहते हैं यह है ही कांटों का जंगल। वह है फूलों का बगीचा। यहाँ आने से पहले तुम असुर थे। अभी तुम असुर से देवता बन रहे हो। कौन बनाते हैं? बेहद का बाप। देवताओं का राज्य था तो दूसरा कोई था नहीं। यह भी तुम समझते हो। जो नहीं समझ सकते हैं, उनको ही पतित कहा जाता है। यह है ब्रह्माकुमार-कुमारियों की सभा। अगर कोई शैतानी का काम करते हैं तो अपने को श्रापित कर देते हैं। पत्थरबुद्धि बन पड़ते हैं। सोने की बुद्धि नर से नारायण बनने वाले तो हैं नहीं – प्रूफ मिल जाता है। थर्ड ग्रेड दास-दासियां जाकर बनेंगे। अभी भी राजाओं के पास दास-दासियां हैं। यह भी गायन है – किनकी दबी रहेगी धूल में…….। आग के गोले भी आयेंगे तो ज़हर के गोले भी आयेंगे। मौत तो आना है जरूर। ऐसी-ऐसी चीजें तैयार कर रहे हैं जो कोई मनुष्य की वा हथियारों आदि की दरकार नहीं रहेगी। वहाँ से बैठे-बैठे ऐसे बाम्ब्स छोड़ेंगे, उनकी हवा ऐसे फैलेगी जो झट खलास कर देगी। इतने करोड़ों मनुष्यों का विनाश होना है, कम बात है क्या! सतयुग में कितने थोड़े होते हैं। बाकी सब चले जायेंगे शान्तिधाम, जहाँ हम आत्मायें रहती हैं। सुखधाम में है स्वर्ग, दु:खधाम में है यह नर्क। यह चक्र फिरता रहता है। पतित बन जाने से दु:खधाम बन जाता है फिर बाप सुखधाम में ले जाते हैं। परमपिता परमात्मा अभी सर्व की सद्गति कर रहे हैं तो खुशी होनी चाहिए ना। मनुष्य डरते हैं, यह नहीं समझते मौत से ही गति-सद्गति होनी है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) फूलों के बगीचे में चलने के लिए अन्दर जो काम-क्रोध के कांटे हैं, उन्हें निकाल देना है। ऐसा कोई कर्म नहीं करना है जिससे श्राप मिल जाए।

2) सचखण्ड का मालिक बनने के लिए सत्य नारायण की सच्ची कथा सुननी और सुनानी है। इस झूठ खण्ड से किनारा कर लेना है।

वरदान:- स्वदर्शन चक्र द्वारा माया के सब चक्रों को समाप्त करने वाले मायाजीत भव
अपने आपको जानना अर्थात् स्व का दर्शन होना और चक्र का ज्ञान जानना अर्थात् स्वदर्शन चक्रधारी बनना। जब स्वदर्शन चक्रधारी बनते हो तो अनेक माया के चक्र स्वत: समाप्त हो जाते हैं। देहभान का पा, सम्बन्ध का पा, समस्याओं का पा…माया के अनेक चक्र हैं। 63 जन्म इन्हीं अनेक चक्रों में फंसते रहे अब स्वदर्शन चक्रधारी बनने से मायाजीत बन गये। स्वदर्शन चक्रधारी बनना अर्थात् ज्ञान योग के पंखों से उड़ती कला में जाना।
स्लोगन:- विदेही स्थिति में रहो तो परिस्थितियां सहज पार हो जायेंगी।

TODAY MURLI 9 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 9 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 8 September 2018 :- Click Here

09/09/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
14/01/84

Double servers automatically become conquerors of Maya.

Today, the Father, the Comforter of Hearts, has come to have an exchange of the heart with His loving and co-operative children who are sitting on His heart-throne. What is in the Father’s heart and what is in the hearts of the children? Today, Baba has come to find out what is in each one’s heart. Baba has especially come to have an exchange of the heart with the double-foreign children who are residents of faraway lands. You always listen to the murli but Baba has come today to have a heart-to-heart conversation and see whether all the children are easily moving forward naturally. You don’t find anything difficult or get tired while moving along, do you? You don’t get tired, do you? You don’t get confused over trivial things, do you? It is when you disobey any Godly discipline or direction of shrimat in your thoughts, words or deeds that you then get confused. Otherwise, there is no difficulty in moving along gladly with the Father in a happy, relaxed and comfortable manner. There is no tiredness then. There is no confusion there. Any type of weakness makes an easy thing difficult. So BapDada seeing the children, is having a heart-to-heart conversation with them. You are such beloved, long-lost and now-found elevated souls, special souls, charitable souls, the most elevated, pure souls and the souls who are images of support for the world. Therefore, how could anything be difficult? How can you get confused? Who are you moving along with? BapDada has enfolded you in His arms of love and co-operation and is taking you with Him. A garland of the arms of love and co-operation are constantly around your necks. How could children who are garlanded with such a garland possibly get confused? Those who constantly swing in the swings of happiness and who constantly stay in remembrance of the Father cannot find anything difficult or confusing. For how much longer will you continue to find things difficult and experience confusion? How can those who stay under the canopy of the Father’s sustenance be confused? After belonging to the Father, after becoming powerful souls, after becoming knowledgefull of Maya, after receiving all rights to all powers and all treasures, can you be shaken by Maya or any obstacle? (No.) You are saying this very softly. Say: She cannot shake us ever again! Just be careful: everyone’s photograph is being taken. What you say is being recorded on a cassette. You won’t then change when you go back, will you? From now on, you will only send news of love, service and special experiences of the flying stage, will you not? You won’t write letters saying, “Maya came, we fell down, we got confused, we got tired, we were afraid”, will you? What news is constantly in the newspapers all over the world? News of sorrow, peacelessness and confusion.

What will your newsletters be about, however? Always news of happiness; experiences of happiness: Today, I had this special experience. Today, I did this special service. Today, I experienced serving through the mind. Today, I made a disheartened person happy. I made someone who had fallen down fly. You will write these types of letters, will you not? Because you have been confused for 63 births, you have been falling and stumbling. You did everything. So now, after 63 births, in this one elevated birth, in the birth of transformation, in the birth in which you don’t just have the ascending stage, but the flying stage, if you still get confused, fall down or get tired or your intellects wander around, it is hard for BapDada to see this. You are loving children, are you not? So the Father, the Bestower of Happiness, cannot bear to see even the shortest period of a wave of sorrow of loving children. Do you understand? So, you have now made the past the past for all time, have you not? Any time a child gets even slightly confused or is influenced by obstacles of Maya or becomes weak, do you know what the face of that child looks like to BapDada in the subtle region? It is like a cartoon of Mickey Mouse. Sometimes, with a burden of Maya, you become big. Sometimes you lose courage in making effort and you become small. They have different sizes of Mickey Mouse, some big and some small. You will not become Mickey Mouse, will you? BapDada is amused to see this show. Sometimes, you have an angelic form, sometimes the form of a great donor, sometimes the form of being loving and co-operative with everyone, sometimes double light and at other times you still become Mickey Mouse. Which form do you like? You don’t like those small forms, do you? BapDada was seeing how much work you children still have to do. Compared with how much you have to do, what you have done so far is nothing. How many have you given the message to so far? At least create the first population of the golden age of 900,000. You have to create more but, for now, at least create 900,000! BapDada was seeing how much service you still have to do. How busy should those who have such a responsibility of service be? Would they have time to think about anything else? Those who keep busy easily become conquerors of Maya. What are they busydoing? They are busy doing all types of service with their vision, thoughts, words, deeds and connections. Along with thoughts, let service also be done with words and deeds. Whether you do something or whether you speak, just as you are double-light, you have double crowns, you are doubly worshipped and you want to claim a double inheritance, in the same way, there has to be double service. Let it not just be serving with your mind or just doing something but, along with serving with the mind, let service also be done through words. As well as with the mind, let it also be with actions. This is known as being a doubleserver. Such double servers are automatically conquerors of Maya. Do you understand? You only do single service. If you simply serve with words or actions, then Maya takes a chance to become your companion. To serve with the mind means to have remembrance; remembrance is to have the Father’s support. So, when you are double, when you have the Companion with you, Maya cannot become your companion. When you remain single, Maya becomes your companion. You then say that you did a lot of service. You still have happiness from doing service but Maya then gets in between service. What was the reason for that? You did single service. You weren’t a double server. Now, this year, what will you double foreigners claim a prize for? You do want to claim a prize, do you not?

The centres – and each one’s individual stage – that remain free from obstacles this year in terms of service, and who spread vibrations into the world of being free from obstacles, that are not influenced by any obstacles throughout the year, centres that have examples of those with such a stage and who also do such service will receive a number one prize. You will claim such a prize, will you not? Any centre that wants this can claim it. They can be from this land or abroad, but they must have been free from obstacles throughout the whole year. Keep a chart of this account for the centre, just as you keep all the other accounts. You note down how many exhibitions you had, how many people came, etc. In the same way, also note this down in your accounts every month: This month, all the Brahmin family who came to class remained free from obstacles. Let there not be anything such as “Maya came” etc. Don’t think that Maya will not come. Maya may come, but don’t be influenced by her. It is Maya’s duty to come and your duty to conquer Maya. Don’t be influenced by her. With your influence, chase Maya away. Do not become influenced by Maya. So, do you understand which prize you have to claim? If even one person is caught up in obstacles, then there cannot be a prize , because you are all companions. All of you have to return home accompanying one another. For this, the atmosphere at your centre always has to be so powerful that it becomes constantly co-operative for all souls. A powerful atmosphere helps to make weak ones strong, just like a fortress. Why do they build a fortress? So that the people within the fortress still remain safe. They wouldn’t build just a small place for the king, but they would build a fortress. Each of you also builds a fortress of powerful flames for yourself, for your companions and for all souls. Let it be of the flames of the power of remembrance. Now, we shall see who claims this prize at the end of the year. You come here to celebrate the New Year. So those who are victorious will especially be invited with a special invitation. You will not be victorious alone. The whole centre has to be victorious. We will have a ceremony for that centre. Then we shall see whether it is those from abroad or those from this land who go ahead. Achcha, there isn’t anything else that is difficult, is there? No form of Maya is troubling you, is it? What story did you hear in the memorial? What happened to Supnakha when she came to cause trouble? Do you not know how to cut off Maya’s nose? Here, everything happens easily. They have made up a story just to make it interesting. When Maya is attacked once, that is enough. Maya doesn’t have any strength. It is just the weakness within. She is already dead. She is now at her last remaining breath. You have to destroy that and become victorious, because you have reached the final moments. You simply have to become victorious and accordingly claim your fortune of the kingdom. Therefore, in this last breath, become victorious in name only. It is said that those who conquer Maya conquer the world. The fortune of the kingdom is the fruit of gaining victory. This is why this game of Maya is in name only. It is not a battle; it is a game. Do you understand? From today, don’t become Mickey Mouse. Achcha.

Some information about the establishment of the golden age.

Make your merged sanskars of heaven of the previous cycle emerge and you will experience yourself to be a golden-aged prince or princess. When you make those golden-aged sanskars emerge, all the customs and systems of the golden age will emerge so clearly that it will be as though it is a matter of only yesterday. Yesterday, we used to do this. You can have this experience, can you not? The golden age, the age of truth, means to have all the different types of happiness: happiness of nature, happiness of the soul, happiness of the intellect, happiness of the mind and happiness of relationships. So, now think about what the happiness of nature would be, what the happiness of the mind would be and what the happiness of relationships would be. Let all this emerge. Whatever you see as the best of all in this world that will all exist there in its purest form, in its complete form and its form of giving happiness. Whether in terms of wealth, your mind, or the weather, all the most elevated of attainments is called the golden age. Just think of it as a very good, the best of all, complete family that constantly gives happiness. There, even though there are the different levels of status of king and subjects, everything functions as a family. They wouldn’t say that someone is a maid or a servant. They will be numberwise; they will be serving, but there will not be the feeling that someone is a servant. In a family there, all relationships are ones of happiness. It is a happy family, a powerful family and everything about it is elevated. You will go to the shops to buy things but there will not be a financial exchange. There will be the exchange of give and take in terms of a family. Just think of it as a gift. A family has disciplines. For instance, when someone has a lot of something, he shares it with the rest of the family, not in terms in the sense of keeping accounts. With regard to carrying out the activities, everyone is given his or her own duty, just like here in Madhuban. Some look after the clothes, some look after the grain; they don’t have to give money, do they? However, there are people in charge of everything. It will be like that there too. Everything there is plentiful and it is therefore always present; there is nothing lacking at all. You can take as much as you want of whatever you want. It is just a way to remain busy. It is just a game of entertainment. You don’t have to show your accounts to anyone. Here it is the confluence age. The confluence age means economy. The golden age means to eat, drink and use as much as you want. You are completely ignorant of the word “desire”. Where there are desires, you have to show the accounts. It is only because of desires that there is fluctuation, there is up and down. There, there are no desires and nothing is lacking. You have all attainments and you are also complete, and so what more would you need? It isn’t that you take more of something because you like it. You will remain full. Your heart will be filled. You have to go to the golden age. Nature will serve you in every way. (Baba will not be there in the golden age.) He will continue to watch the games of the children. There has to be someone who is a detached observer. The One who is detached would remain detached, would He not? He would be loving, but He would be loving whilst being detached. He is playing the game of being loving at this time, is He not? In the golden age, it is best to remain detached. Otherwise, who would pull all of you up when you have fallen down? To enter the golden age means to go into the cycle. Achcha. When you take birth in the golden age, then invite Me! If that thought emerge in you, I will come there. To enter the golden age means to enter the cycle. You are tempting BapDada with things of the golden age. Achcha. There will be so many things there that you won’t even be able to eat them all. You will simply continue to look at them. Achcha.

To such all-powerful souls, to the souls who are always conquerors of Maya and thereby conquerors of the world, to the children who have received the blessing of being constantly easy yogis, to the double servers, the double crowned, double-light children, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Blessing: May you be constantly happy and an embodiment of all attainments, seated on the seat of self-respect, by maintaining your spirituality.
Each child has a speciality of one or another virtue. All are special, virtuous, great and master almighty authorities. Always keep this spiritual intoxication in your awareness; this is known as self-respect. There cannot be any ego (abhimaan) in this self-respect (swa-maan). The seat of ego is a seat of thorns and so do not try to sit on that seat. Maintain your spirituality and sit on the seat of self-respect and you will continue to experience being constantly happy, always elevated and a constant an embodiment of all attainments.
Slogan: Those who forgive every soul and give blessings with their good wishes are benefactors.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 9 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 September 2018

To Read Murli 8 September 2018 :- Click Here
09-09-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 14-01-84 मधुबन

डबल सेवाधारी स्वत: ही मायाजीत

आज दिलाराम बाप अपने दिल तख्तनशीन बच्चों से वा अपने स्नेही, सहयोगी बच्चों से दिल की लेन-देन करने आये हैं। बाप की दिल में क्या रहता और बच्चों की दिल में क्या रहता है, आज सभी के दिल का हाल-चाल लेने आये हैं। खास दूरांदेशी डबल विदेशी बच्चों से दिल की लेन-देन करने आये हैं। मुरली तो सुनते रहते हो लेकिन आज रूहरिहान करने आये हैं कि सभी बच्चे सहज सरल रूप से आगे बढ़ते जा रहे हो? कोई मुश्किल, चलने में थकावट तो नहीं लगती, थकते तो नहीं हो? किसी छोटी बड़ी बातों में कनफ्यूज़ तो नहीं होते हो? जब किसी न किसी ईश्वरीय मार्यादा वा श्रीमत के डायरेक्शन को संकल्प में, वाणी में वा कर्म में उल्लंघन करते हो तब कन्फ्यूज होते हो। नहीं तो बहुत खुशी-खुशी से, सुख चैन आराम से बाप के साथ-साथ चलने में कोई मुश्किल नहीं, कोई थकावट नहीं, कोई उलझन नहीं। किसी भी प्रकार की कमजोरी सहज को मुश्किल बना देती है। तो बापदादा बच्चों को देख रूहरिहान कर रहे थे कि इतने लाडले, सिकीलधे श्रेष्ठ आत्मायें, विशेष आत्मायें, पुण्य आत्मायें, सर्व श्रेष्ठ पावन आत्मायें, विश्व के आधारमूर्त आत्मायें और फिर मुश्किल कैसे? उलझन में कैसे आ सकते हैं? किसके साथ चल रहे हैं? बापदादा स्नेह और सहयोग की बाँहों में समाते हुए साथ-साथ ले जा रहे हैं। स्नेह, सहयोग के बांहों की माला सदा गले में पड़ी हुई है। ऐसे माला में पिराये हुए बच्चे और उलझन में आवें यह हो कैसे सकता! सदा खुशी के झूले में झूलने वाले सदा बाप की याद में रहने वाले मुश्किल वा उलझन में आ नही सकते! कब तक उलझन और मुश्किल का अनुभव करते रहेंगे? बाप की पालना की छत्रछाया के अन्दर रहने वाले उलझन में कैसे आ सकते हैं। बाप का बनने के बाद, शक्तिशाली आत्मायें बनने के बाद, माया के नॉलेजफुल बनने के बाद सर्वशक्तियों, सर्व खजानों के अधिकारी बनने के बाद क्या माया वा विघ्न हिला सकते हैं? (नहीं) बहुत धीरे-धीरे बोलते हैं। बोलो, सदाकाल के लिए नहीं। देखना – सभी का फोटो निकल रहा है। टेप भरी है आवाज की। फिर वहाँ जाकर बदल तो नहीं जायेंगे ना! अभी से सिर्फ स्नेह के, सेवा के, उड़ती कला के विशेष अनुभवों के ही समाचार देंगे ना। माया आ गई, गिर गये, उलझ गये, थक गये, घबरा गये, ऐसे-ऐसे पत्र तो नहीं आयेंगे ना! जैसे आजकल की दुनिया में समाचार पत्रों में क्या खबरें निकलती हैं? दु:ख की, अशान्ति की, उलझनों की।

लेकिन आपके समाचार पत्र कौन से होंगे? सदा खुशखबरी के। खुशी के अनुभव – आज मैंने यह विशेष अनुभव किया। आज यह विशेष सेवा की। आज मंसा के सेवा की अनुभूति की। आज दिल शिकस्त को दिलखुश बना दिया। नीचे गिरे हुए को उड़ा दिया। ऐसे पत्र लिखेंगे ना क्योंकि 63 जन्म उलझे भी, गिरे भी, ठोकरें भी खाई। सब कुछ किया और 63 जन्मों के बाद यह एक श्रेष्ठ जन्म, परिवर्तन का जन्म, चढ़ती कला से भी उड़ती कला का जन्म, इसमें उलझना, गिरना, थकना बुद्धि से भटकना, यह बापदादा देख नहीं सकते क्योंकि स्नेही बच्चे हैं ना। तो स्नेही बच्चों का यह थोड़ा-सा दु:ख की लहर का समय सुखदाता बाप देख नहीं सकते। समझा! तो अभी सदाकाल के लिए बीती को बीती कर लिया ना। जिस समय कोई भी बच्चा ज़रा भी उलझन में आता वा माया के विघ्नों के वश हो जाता, कमजोर हो जाता उस समय वतन में बापदादा के सामने उन बच्चों का चेहरा कैसा दिखाई देता है, मालूम है? मिक्की माउस के खेल की तरह। कभी माया के बोझ से मोटे बन जाते। कभी पुरुषार्थ के हिम्मतहीन छोटे बन जाते। मिक्की माउस भी कोई छोटा, कोई मोटा होता है ना! मिक्की माउस तो नहीं बनेंगे ना। बापदादा भी यह खेल देख हँसते रहते हैं। कभी देखो फरिश्ता रूप, कभी देखो महादानी रूप, कभी देखो सर्व के स्नेही सहयोगी रूप, कभी डबल लाइट रूप और कभी-कभी फिर मिक्की माउस भी हो जाते हैं। कौन-सा रूप अच्छा लगता है? यह छोटा-मोटा रूप तो अच्छा नहीं लगता है ना। बापदादा देख रहे थे कि बच्चों को अभी कितना कार्य करना है। किया है वह तो करने के आगे कुछ भी नहीं है। अभी कितनों को सन्देश दिया है? कम से कम सतयुग की पहली संख्या 9 लाख तो बनाओ। बनाना तो ज्यादा है लेकिन अभी 9 लाख तो बनाओ। बापदादा देख रहे थे कि कितनी सेवा अभी करनी है, जिसके ऊपर इतनी सेवा की जिम्मेवारी है। वह कितने बिजी होंगे! उन्हों को और कुछ सोचने की फुर्सत होगी? जो बिज़ी रहता है वह सहज ही मायाजीत होता है। बिजी किसमें हैं? दृष्टि द्वारा, मंसा द्वारा, वाणी द्वारा, कर्म द्वारा, सम्पर्क द्वारा चारों प्रकार की सेवा में बिजी। मंसा और वाणी वा कर्म दोनों साथ-साथ हों। चाहे कर्म करते हो, चाहे मुख से बोलते हो, जैसे डबल लाइट हो, डबल ताजधारी हो, डबल पूज्य हो, डबल वर्सा पाते हो तो सेवा भी डबल चाहिए। सिर्फ मंसा नहीं, सिर्फ कर्म नहीं। लेकिन मंसा के साथ-साथ वाणी। मंसा के साथ-साथ कर्म। इसको कहा जाता है डबल सेवाधारी। ऐसे डबल सेवाधारी स्वत: ही मायाजीत रहते हैं। समझा! सिंगल सेवा करते हो। सिर्फ वाणी में वा सिर्फ कर्म में आ जाते हो तो माया को साथी बनने का चांस मिल जाता है। मंसा अर्थात् याद। याद है बाप का सहारा। तो जहाँ डबल है, साथी साथ में है तो माया साथी बन नहीं सकती। सिंगल होते हो तो माया साथी बन जाती है। फिर कहते सेवा तो बहुत की। सेवा की खुशी भी होती है लेकिन फिर सेवा के बीच में माया भी आ गई। कारण? सिंगल सेवा की। डबल सेवाधारी नहीं बनें। अभी इस वर्ष डबल विदेशी किस बात में प्राइज़ लेंगे? प्राइज़ लेनी तो है ना!

जो सेवाकेन्द्र इस वर्ष सेवा में, स्व की स्थिति में सदा निर्विघ्न रह, निर्विघ्न बनाने का वायब्रेशन विश्व में फैलायेंगे, सारे वर्ष में कोई भी विघ्न वश नहीं होंगे – ऐसी सेवा और स्थिति में जिस भी सेवाकेन्द्र का एक्जैम्पुल होगा उसको नम्बर वन प्राइज़ मिलेगी। ऐसी प्राइज लेंगे ना! जितने भी सेन्टर्स लें। चाहे देश के हों, चाहे विदेश के हों लेकिन सारे वर्ष में निर्विघ्न हों। यह सेन्टर के पोतामेल का चार्ट रखना। जैसे और पोतामेल रखते हो ना। कितनी प्रदर्शनियाँ हुई, कितने लोग आये, वैसे यह पोतामेल हर मास का नोट करना। यह मास सब क्लास के आने वाले ब्राह्मण परिवार निर्विघ्न रहे। माया आई, इसमें कोई ऐसी बात नहीं। ऐसे नहीं कि माया आयेगी ही नहीं। माया आवे लेकिन माया के वश नहीं होना है। माया का काम है आना और आपका काम है माया को जीतना। उनके प्रभाव में नहीं आना है। अपने प्रभाव से माया को भगाना है न कि माया के प्रभाव में आना है। तो समझा कौन-सी प्राइज़ लेनी है। एक भी विघ्न में आया तो प्राइज नहीं क्योंकि साथी हो ना। सभी को एक दो को साथ देते हुए अपने घर चलना है ना। इसके लिए सदा सेवाकेन्द्र का वातावरण ऐसा शक्तिशाली हो जो वातावरण भी सर्व आत्माओं के लिए सदा सहयोगी बन जाए। शक्तिशाली वातावरण कमज़ोर को भी शक्तिशाली बनाने में सहयोगी होता है। जैसे किला बांधा जाता है ना। किला क्यों बांधते हैं कि प्रजा भी किले के अन्दर सेफ रहे। एक राजा के लिए कोठरी नहीं बनाते, किला बनाते थे। आप सभी भी स्वयं के लिए, साथियों के लिए, अन्य आत्माओं के लिए ज्वाला का किला बांधो। याद के शक्ति की ज्वाला हो। अभी देखेंगे कौन प्राइज लेते हैं? वर्ष के अन्त में। न्यू ईयर मनाने आते हो ना, तो जो विजयी होंगे, उन्हों को विशेष निमंत्रण देकर बुलाया जायेगा। अकेले विजयी नहीं होंगे। पूरा सेन्टर विजयी हो। उस सेन्टर की सेरीमनी करेंगे। फिर देखेंगे विदेश आगे आता है वा देश? अच्छा और कोई मुश्किल तो नहीं, कोई भी माया का रूप तंग तो नहीं करता है ना। यादगार में कहानी क्या सुनी है! सूपनखा उसको तंग करने आई तो क्या किया? माया का नाक काटने नहीं आता? यहाँ सब सहज हो जाता है, उन्होंने तो इन्ट्रेस्टिंग बनाने के लिए कहानी बना दी है। माया पर एक बार वार कर लिया, बस। माया में कोई दम नहीं है। बाकी है अन्दर की कमजोरी। मरी पड़ी है। थोड़ा-सा रहा हुआ श्वांस चल रहा है। इसको खत्म करना और विजयी बनना है क्योंकि अन्तिम समय पर तो पहुँच गये हैं ना! सिर्फ विजयी बन विजय के हिसाब से राज्य भाग्य पाना है इसलिए यह अन्तिम श्वांस पर निमित्त मात्र विजयी बनना है। माया जीत जगतजीत हैं ना। विजय प्राप्त करने का फल राज्य भाग्य है इसलिए सिर्फ निमित्त मात्र यह माया से खेल है। युद्ध नहीं है, खेल है। समझा! आज से मिक्की माउस नहीं बनना। अच्छा!

सतयुग की स्थापना के बारे में कुछ जानकारी

अपने कल्प पहले वाले स्वर्ग के मर्ज हुए संस्करों को इमर्ज करो तो स्वयं ही अपने को सतयुगी शहज़ादी वा शहजादे अनुभव करेंगे और जिस समय वह सतयुगी संस्कार इमर्ज करेंगे तो सतयुग की सभी रीति-रसम ऐसे स्पष्ट इमर्ज होगी जैसे कल की बात है। कल ऐसा करते थे – ऐसा अनुभव कर सकते हो! सतयुग का अर्थ ही है, जो भी प्रकृति के सुख हैं, आत्मा के सुख हैं, बुद्धि के सुख हैं, मन के सुख हैं, सम्बन्ध का सुख है, जो भी सुख होते वह सब हाजिर हैं। तो अब सोचो प्रकृति के सुख क्या होते हैं, मन का सुख क्या होता है, सम्बन्ध का सुख क्या होता है – ऐसे इमर्ज करो। जो भी आपको इस दुनिया में अच्छे ते अच्छा दिखाई देता है – वह सब चीजें प्युअर रूप में, सम्पन्न रूप में, सुखदाई रूप में वहाँ होंगी। चाहे धन कहो, मन कहो, मौसम कहो, सब प्राप्ति तो श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ हैं, उसको ही सतयुग कहा जाता है। एक बहुत अच्छे ते अच्छी सुखदाई सम्पन्न फैमली समझो; वहाँ राजा प्रजा समान मर्तबे होते हुए भी परिवार के रूप में चलता है। यह नहीं कहेंगे कि यह दास-दासी है। नम्बर होंगे, सेवा होगी लेकिन दासी है, इस भावना से नहीं चलेंगे। जैसे परिवार के सब सम्बन्ध खुश मिज़ाज, सुखी परिवार, समर्थ परिवार, जो भी श्रेष्ठता है वह सब है। दुकानों में भी खरीदारी करेंगे तो हिसाब-किताब से नहीं। परिवार की लेन-देन के हिसाब से कुछ देंगे कुछ लेंगे। गिफ्ट ही समझो। जैसे परिवार में नियम होता है – किसके पास ज्यादा चीज़ होती है तो सभी को बांटते हैं। हिसाब-किताब की रीति से नहीं। कारोबार चलाने के लिए कोई को कोई डियुटी मिली हुई है, कोई को कोई। जैसे यहाँ मुधबन में है ना। कोई कपड़े सम्भालाता, कोई अनाज सम्भालता, कोई पैसे तो नहीं देते हो ना। लेकिन चार्ज़ वाले तो हैं ना। ऐसे वहाँ भी होंगे। सब चीजें अथाह हैं, इसलिए जी हाजिर। कमी तो है ही नहीं। जितना चाहिए, जैसा चाहिए वह लो। सिर्फ बिजी रहने का यह एक साधन है। वह भी खेल-पाल है। कोई हिसाब-किताब किसको दिखाना तो है नहीं। यहाँ तो संगम है ना। संगम माना एकानामी। सतयुग माना खाओ, पियो, उड़ाओ। इच्छा मात्रम् अविद्या है। जहाँ इच्छा होती वहाँ हिसाब-किताब करना होता। इच्छा के कारण ही नीचे ऊपर होता है। वहाँ इच्छा भी नहीं, कमी भी नहीं। सर्व प्राप्ति हैं और सम्पन्न भी हैं तो बाकी और क्या चाहिए। ऐसे नहीं अच्छी चीज लगती तो ज्यादा ले ली। भरपूर होंगे। दिल भरी हुई होगी। सतयुग में तो जाना ही है ना। प्रकृति सब सेवा करेगी। (सतयुग में बाबा तो नहीं होंगे) बच्चों का खेल देखते रहेंगे। कोई तो साक्षी भी हो ना। न्यारा तो न्यारा ही रहेगा ना। प्यारा रहेगा लेकिन न्यारा रह करके प्यारा रहेगा। प्यारे का खेल तो अभी कर रहे हैं ना। सतयुग में न्यारापन ही अच्छा है। नहीं तो जब आप सभी गिरेंगे तो कौन निकालेगा। सतयुग में आना अर्थात् चक्र में आना। अच्छा – सतयुग में जब आप जन्म लो तब निमंत्रण देना, आप अगर संकल्प इमर्ज करेंगी तो फिर आयेंगे। सतयुग में आना अर्थात् चक्र में आना। बापदादा को स्वर्ग की बातों में आप आकर्षण कर रहे हो! अच्छा-इतने तो वैभव होंगे जो सब खा भी नहीं सकेंगे। सिर्फ देखते रहेंगे। अच्छा!

ऐसे सदा सर्व समर्थ आत्माओं को, सदा मायाजीत, जगतजीत आत्माओं को, सदा सहज योगी भव के वरदानी बच्चों को, डबल सेवाधारी, डबल ताजधारी, डबल लाइट बच्चों को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

वरदान:- रूहानियत में रहकर स्वमान की सीट पर बैठने वाले सदा सुखी, सर्व प्राप्ति स्वरूप भव 
हर एक बच्चे में किसी न किसी गुण की विशेषता है। सभी विशेष हैं, गुणवान हैं, महान हैं, मास्टर सर्वशक्तिमान् हैं-यह रूहानी नशा सदा स्मृति में रहे-इसको ही कहते हैं स्वमान। इस स्वमान में अभिमान आ नहीं सकता। अभिमान की सीट कांटों की सीट है इसलिए उस सीट पर बैठने का प्रयत्न नहीं करो। रूहानियत में रहकर स्वमान की सीट पर बैठ जाओ तो सदा सुखी, सदा श्रेष्ठ, सदा सर्व प्राप्ति स्वरूप का अनुभव करते रहेंगे।
स्लोगन:- अपनी शुभ भावना से हर आत्मा को दुआ देने वाले और क्षमा करने वाले ही कल्याणकारी हैं।
Font Resize