9 MAY KI MURLI

TODAY MURLI 9 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

09/05/21
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
27/12/87

Signs of the victorious jewels whose intellects have faith.

Today, BapDada is looking at His victorious children everywhere whose intellects have faith. He is looking at the signs of faith in every child. The main signs of faith are:

1. As is your faith, accordingly, the spiritual intoxication will be visible in your actions and words and on your face at every moment.

2. You will easily experience victory in your every action and thought in a practical way. You will experience victory, not in some form of effort, but in the form of visible fruit and a right.

3. There won’t be even one per cent doubt, even in your thoughts, in your elevated fortune, in your elevated life, in the Father or in your connections and relationships with the family.

4. All question marks will have finished and you will have become a point who puts a full stop in every situation.

5. When your intellect has faith you will easily and automatically experience yourself to be a carefree emperor at every moment. That is, you will not repeatedly have to make effort to bring that awareness. You won’t have to labour to say, “I am an emperor”, but you will be constantly stable on the elevated seat of your throne. In worldly life, your stage is created according to the situation. Whether it is a stage of happiness or sorrow, you automatically stay in the experience of that stage; you don’t repeatedly have to remind yourself: “I am happy” or “I am unhappy.” You easily and naturally experience the stage of being a carefree emperor. In worldly life, your stage is created according to the situation, but in this powerful alokik Brahmin life, your stage is not created according to the situation, for you have the elevated stage of a carefree emperor through receiving the light and might of knowledge from BapDada and from the power of remembrance. You would refer to this as: receiving the inheritance of the powers of knowledge and yoga from the Father. In Brahmin life you attain your stage through the inheritance from the Father, through the blessings from the Satguru and the elevated fortune you receive from the Bestower of Fortune. If your stage is based on the situation, then, who is more powerful? The situation would be more powerful, would it not? Those who create their stage on the basis of the situation can never become unshakeable and immovable. In a life without knowledge, one minute they are dancing with a lot of happiness, and the next minute they are sleeping on their stomachs. In alokik life, you don’t have a stage of such fluctuation. You are not dependent on the situation but, on the basis of your inheritance, blessings and your elevated stage, you transform the situation. So, because of this, one whose intellect has faith is always a carefree emperor. You worry when something is lacking or something is missing, but if you are an embodiment of all attainments, if you are a master almighty authority, what is there to worry about?

6. When your intellect has faith, you always surrender to the Father. To surrender means to surrender completely. To surrender every trace and progeny, whether it is the progeny of vices that bring you into body consciousness, the progeny of bodily relations or the progeny of a desire for temporary things associated with the body. All of those things are included in the progeny. To be completely surrendered and to be a complete renunciate are the same thing. To surrender doesn’t mean that you sit in Madhuban or at a centre. To offer yourself for service is a step on the ladder, but to surrender yourself completely is the destination of the ladder. You have climbed one step of the ladder, but the sign of one whose intellect has faith who reaches the destination, is that he would have surrendered all three progenies. You now know all three things very clearly, do you not? All progeny ends when there isn’t the slightest trace of it in your dreams or thoughts. If any trace remains, a progeny will be created. This is why the definition of a complete renunciate is extremely deep. Baba will tell you more at some other time.

7. One whose intellect has faith will always be carefree and free from worry. He will experience the intoxication of guaranteed victory in every situation. Faith enables you to experience being carefree with a guarantee at every moment.

8. Such a soul will always remain intoxicated and, seeing his intoxication, others too will experience that spiritual intoxication. He will give others an experience of spiritual intoxication with help from the Father and his own stage.

What would be the specialities of someone whose intellect has faith and who stays in spiritual intoxication? Firstly, to the extent that there is elevated intoxication, so he would accordingly have humility in every act of life. Because of having the speciality of humility, he would have a creative intellect. He would pay attention to the intellect: to the extent that it is humble, so it is creative. You speak of renewal. So, his intellect would be one that brings about renewal; he would be creative and also humble. Where there are these specialities, such a person is called victorious because his intellect has faith. An instrument, creative and humble. What would be the language of one whose intellect has faith? To be constantly sweet in his language is a common thing for one whose intellect has faith, but he would also have generosity. Generosity means he would have the generosity to make all souls move forward. “You first” not “Me, me”. Generosity means to keep others ahead, just as Father Brahma always kept Mother Jagadamba and the children at the front: Jagadamba is cleverer than I am; these children are cleverer than I am. This is the language of generosity. Where there is generosity, where you don’t have any desire to keep yourself in the front, then, according to the drama, you automatically receive the fruit you desire. The more you stay in the stage of being ignorant of all desires, the more the Father and the family consider you to be worthy and keep you in the front. So, those who say “You first” in their minds (hearts) cannot be left behind. They say, “You first” in their minds, and so they are automatically put first by everyone. However, someone with this desire would not be. So, the language of someone whose intellect has faith is that of generosity, the language of contentment and the language of benefiting everyone. Someone with such language would be said to be victorious because his intellect has faith. All of your intellects have faith, do they not? Because faith is the foundation.

However, when the storms of situations, of Maya, of sanskars and the different forms of nature come, you then know how strong the foundation of your faith is. In this old world, you have different types of storms, do you not? Sometimes of the wind, sometimes of the ocean. In the same way, here, too, you have different types of storms. What does a storm do? It first blows you and then throws you. So, here storms also first pull you to themselves with pleasure. They take you high in some temporary intoxication, because Maya also knows that you will not go to her unless there is some attainment. So, she first makes you fly high with artificial attainment. Then she drops you down in the falling stage. She is clever. So the vision of those whose intellects have faith is that of three eyes (trinetri); they see the three aspects of time with their third eyes, and they can therefore never be deceived. So, faith is tested at the time of a storm. Just as storms uproot the foundations of big, old trees, so these storms of Maya also try to uproot the foundation of your faith. However, the result is that the foundation is not uprooted that much, but it shakes a lot. The foundation even becomes weak because of being shaken. So, at such a time, check the foundation of your faith. If you ask anyone if they have firm faith, what would they say? They would give you a very good lecture. It is good to have faith. However, if, at such a time your faith shakes, then, for it to shake means that you are also shaken from your reward for birth after birth. Therefore, check at the time of storms: when someone doesn’t give you some limited name or regard, or when the storms of Maya come in the form of wasteful thoughts, when the desires you have are not being fulfilled, then, at that time, do you remember your faith of being a powerful soul of the Almighty Father? Or, does the wasteful become victorious over the powerful? If the wasteful becomes victorious, then the foundation of your faith would shake, would it not? Then, instead of experiencing yourself to be powerful, you would experience yourself to be a weak soul. You would then be disheartened. This is why you are being told to check at the time of storms. Limited name and honour and the consciousness of “I” bring you down from spiritual pride. Any limited desire will bring you down from the faith of being completely ignorant of the knowledge of desires. So, faith does not mean: “I am not a body but a soul”, but, “What type of soul am I?” To experience that intoxication and self-respect at that time is called being victorious because the intellect has faith. If someone doesn’t take a paper but says that he has passed with honours, would anyone believe him? A certificate is required. No matter with how many marks someone passes or if he has a degree, until he receives his certificate, there is no value. When you take the test paper at the time of the paper and you pass it and receive the certificate from the Father and the family, you can then be called victorious through having faith in the intellect. Do you understand? So, continue to check your foundation. You heard the speciality of having an intellect with faith, did you not? Let the spiritual intoxication, according to the time, be visible in your life. Let it not be just your mind that is pleased, but people should also be pleased. Let everyone experience you as being a soul who remains intoxicated. Do not just be one who is liked by yourself, but also be liked by people and by the Father. This is what it is to be victorious. Achcha.

To all the victorious jewels whose intellects have faith, to all the carefree children who are free from worry, to the spiritual souls who stay in the intoxication of having guaranteed victory, to all the special souls who go beyond all storms and experience them to be a gift, to the children whose intellects have faith and who remain constantly unshakeable, immovable and stable in a constant stage, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting foreign brothers and sisters:

Do you experience yourselves to be close jewels? What is the sign of close jewels? They will always experience being easy and natural gyani, yogi souls who are embodiments of virtues and servers. These four specialities will easily be experienced in every step of the close jewels. Not a single one of these would be any less. Not that he would be not so good at yoga or better at yoga or would be weak when it comes to imbibing divine virtues: he would easily experience being constant in everything. A close jewel will never experience anything to be hard work, but will easily experience success, because BapDada liberates you children from labouring at the confluence age. Whether it was effort through your body or effort through your mind, you have laboured for 63 births, have you not? You kept trying various methods in order to find the Father. So, that was effort of the mind, and, even looking at wealth – the service that you do, which you call a job – look how hard you work in that. That also requires effort, does it not? However, you will not have to do that work for half the cycle. You will now be liberated from that too. Neither will you have a lokik job nor will you do devotion: you will be liberated from both. Even now, although you do have a lokik job while being in Brahmin life, you now find it different doing your lokik job, do you not? Now, while doing your lokik job, you remain double light. Why? Because while doing your lokik job, you have the happiness that you are carrying out that job for the sake of alokik service. You don’t have any desires in your mind, do you? Where there are desires, you find it takes effort. Now, you are just doing it in name, because you know that by using all three – your body, mind and wealth – you are accumulating multi-millionfold return for one in the imperishable bank. You will then simply continue to eat what you have accumulated; you will be liberated from the labour of making effort to have yoga, of listening to and relating knowledge. You sometimes get tired of listening to classes, do you not? There, you will do the lokik study of royalty while playing around. You won’t have to remember so many books. You will be liberated from all types of effort. Some have a burden of studying. At the confluence age, you are recording the sanskars of becoming free from labouring. Even if storms of Maya do come, you consider gaining victory over Maya to be a game, not labouring. What happens in a game? You have to gain victory, do you not? So, you play a game of gaining victory over Maya. Do you find it to be a game or something difficult? When you are stable in the stage of a master almighty authority, you will find it to be a game. In fact, you challenge her even more to come and take leave for half the cycle. So she comes to celebrate the farewell ceremony, not to fight with you. A victorious jewel is victorious in every task at every moment. You are victorious, are you not? (Ha ji – yes indeed!) So, when you go back, say “Ha ji” there too. Nevertheless, you have become very courageous. Previously, you used to get afraid very quickly. Now you have become courageous. You have now become experienced. So you have become those who have the authority of experience. You have also developed the power to discern and you are therefore not afraid. You have been victorious many times; you are and you will be victorious: always have this awareness. Achcha.

BapDada speaking to Dadis at the time of farewell (Dadi Janki came back after a three to four days’ tour of Bombay)

You have become the ruler of the globe now. It is good. There is service here and service there too. Whilst living here, you do service and wherever you go, service takes place. You have taken a very big contract of service. You are a big contractor, are you not? There are many small contractors but those who are big contractors have to carry out big tasks. (Baba, today I enjoyed myself a lot listening to the murli.) There is nothing but pleasure. It is good. You people catch this and make it clear for others. Not everyone can catch this to the same extent. Just as Jagadamba used to listen to the murli, clarify it and enable everyone to imbibe it by making it easy, similarly, you are now an instrument for that. Some new ones are unable to understand, but BapDada is not looking at only those who are in front of Him. Baba doesn’t only look at those who are sitting in front of Him; He keeps everyone in front of Him. Nevertheless, when the especially beloved ones are sitting in front, it emerges for them. You can even read it and catch it. Achcha.

Blessing: May you spend less and bring about greater glorification and become powerful by stopping any wasteful leakage.
Save all the treasures you have received from BapDada at the confluence age from any wastage and you will become one who brings about greater glorification through less expenditure. To save anything from being wasted means to become powerful. It is not possible for there to be any wastage where there is power. If there is any leakage of waste, then, no matter how much effort you make or hard work you do, you cannot become powerful and this is why you have to check any leakage and stop it. Then, from being wasteful, you will become powerful.
Slogan: To remain completely pure while living at home with your family is the challenge of a yogi and gyani soul.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

09-05-21
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 27-12-87 मधुबन

निश्चय बुद्धि विजयी रत्नों की निशानियाँ

आज बापदादा अपने चारों ओर के निश्चयबुद्धि विजयी बच्चों को देख रहे हैं। हर एक बच्चे के निश्चय की निशानियाँ देख रहे हैं। निश्चय की विशेष निशानियाँ – (1) जैसा निश्चय वैसा कर्म, वाणी में हर समय चेहरे पर रूहानी नशा दिखाई देगा। (2) हर कर्म, संकल्प में विजय सहज प्रत्यक्षफल के रूप में अनुभव होगी। मेहनत के रूप में नहीं, लेकिन प्रत्यक्षफल वा अधिकार के रूप में विजय अनुभव होगी। (3) अपने श्रेष्ठ भाग्य, श्रेष्ठ जीवन वा बाप और परिवार के सम्बन्ध-सम्पर्क द्वारा एक परसेन्ट भी संशय संकल्पमात्र भी नहीं होगा। (4) क्वेश्चन मार्क समाप्त, हर बात में बिन्दु बन बिन्दु लगाने वाले होंगे। (5) निश्चयबुद्धि हर समय अपने को बेफिकर बादशाह सहज स्वत: अनुभव करेंगे अर्थात् बार-बार स्मृति लाने की मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। मैं बादशाह हूँ, यह कहने की मेहनत नहीं करनी पड़ेगी लेकिन सदा स्थिति के श्रेष्ठ आसन वा सिंहासन पर स्थित हैं ही। जैसे लौकिक जीवन में कोई भी परिस्थिति प्रमाण स्थिति बनती है। चाहे दु:ख की, चाहे सुख की, उस स्थिति की अनुभूति में स्वत: ही रहते हैं, बार-बार मेहनत नहीं करते – मैं सुखी हूँ वा मैं दु:खी हूँ। बेफिकर बादशाह की स्थिति का अनुभव स्वत: सहज होता है। अज्ञानी जीवन में परिस्थितियों प्रमाण स्थिति बनती है लेकिन शक्तिशाली अलौकिक ब्राह्मण जीवन में परिस्थिति प्रमाण स्थिति नहीं बनती लेकिन बेफिकर बादशाह की स्थिति वा श्रेष्ठ स्थिति बापदादा द्वारा प्राप्त हुई नॉलेज की लाइट-माइट द्वारा, याद की शक्ति द्वारा जिसको कहेंगे ज्ञान और योग की शक्तियों का वर्सा बाप द्वारा मिलता है। तो ब्राह्मण जीवन में बाप के वर्से द्वारा वा सतगुरू के वरदान द्वारा वा भाग्यविधाता द्वारा प्राप्त हुए श्रेष्ठ भाग्य द्वारा स्थिति प्राप्त होती है। अगर परिस्थिति के आधार पर स्थिति है तो शक्तिशाली कौन हुआ? परिस्थिति पॉवरफुल हो जायेगी ना। और परिस्थिति के आधार पर स्थिति बनाने वाला कभी भी अचल, अडोल नहीं रह सकता। जैसे अज्ञानी जीवन में अभी-अभी देखो बहुत खुशी में नाच रहे हैं और अभी-अभी उल्टे सोये हुए हैं। तो अलौकिक जीवन में ऐसी हलचल वाली स्थिति नहीं होती। परिस्थिति के आधार पर नहीं लेकिन अपने वर्से और वरदान के आधार पर वा अपनी श्रेष्ठ स्थिति के आधार पर परिस्थिति को परिवर्तन करने वाला होगा। तो निश्चय बुद्धि इस कारण सदा बेफिकर बादशाह है क्योंकि फिकर होता है कोई अप्राप्ति वा कमी होने के कारण। अगर सर्व प्राप्तिस्वरूप है, मास्टर सर्वशक्तिवान है तो फिकर किस बात का रहा?

(6) निश्चयबुद्धि अर्थात् सदा बाप पर बलिहार जाने वाले। बलिहार अर्थात् सर्वन्श समर्पित। सर्व वंश सहित समर्पित। चाहे देह भान में लाने वाले विकारों का वंश, चाहे देह के सम्बन्ध का वंश, चाहे देह के विनाशी पदार्थों की इच्छाओं का वंश। सर्व वंश में यह सब आ जाता है। सर्वन्श समर्पित वा सर्वन्श त्यागी एक ही बात है। समर्पित होना इसको नहीं कहा जाता कि मधुबन में बैठ गये वा सेवाकेन्द्रों पर बैठ गये। यह भी एक सीढ़ी है जो सेवा अर्थ अपने को अर्पण करते हैं लेकिन ‘सर्वन्श अर्पित’ – यह सीढ़ी की मंजिल है। एक सीढ़ी चढ़ गये लेकिन मंजिल पर पहुँचने वाले निश्चय बुद्धि की निशानी है – तीनों ही वंश सहित अर्पित। तीनों ही बातें स्पष्ट जान गये ना। वंश तब समाप्त होता है जब स्वप्न वा संकल्प में भी अंश मात्र नहीं। अगर अंश है तो वंश पैदा हो ही जायेगा इसलिए सर्वन्श त्यागी की परिभाषा अति गुह्य है। यह भी कभी सुनायेंगे।

(7) निश्चयबुद्धि सदा बेफिकर, निश्चिन्त होगा। हर बात में विजय प्राप्त होने के नशे में निश्चित अनुभव करेगा। तो निश्चय, निश्चिन्त और निश्चित – यह हर समय अनुभव करायेगा।

(8) वह सदा स्वयं भी नशे में रहेंगे और उनके नशे को देख दूसरों को भी यह रूहानी नशा अनुभव होगा। औरों को भी रूहानी नशे में बाप की मदद से स्वयं की स्थिति से अनुभव करायेगा।

निश्चयबुद्धि की वा रूहानी नशे में रहने वाले के जीवन की विशेषतायें क्या होंगी? पहली बात – जितना ही श्रेष्ठ नशा उतना ही निमित्त भाव हर जीवन के चरित्र में होगा। निमित्त भाव की विशेषता के कारण निर्माण बुद्धि। बुद्धि पर ध्यान देना – जितनी निर्मान बुद्धि होगी उतना निर्माण करते रहेंगे, नव निर्माण कहते हो ना। तो नव निर्माण करने वाली बुद्धि होगी। तो निर्मान भी होंगे, नव-निर्मान भी करेंगे। जहाँ यह विशेषतायें हैं उसको ही कहा जाता है – निश्चयबुद्धि विजयी। निमित्त, निर्मान और निर्माण। निश्चयबुद्धि की भाषा क्या होगी? निश्चयबुद्धि की भाषा में सदा मधुरता तो कॉमन बात है लेकिन उदारता होगी। उदारता का अर्थ है सर्व आत्माओं के प्रति आगे बढ़ाने की उदारता होगी। ‘पहले आप’, ‘मैं-मैं’ नहीं। उदारता अर्थात् दूसरे को आगे रखना। जैसे ब्रह्मा बाप ने सदैव पहले जगत अम्बा वा बच्चों को रखा – मेरे से भी तीखी जगदम्बा है, मेरे से भी तीखे यह बच्चे हैं। यह उदारता की भाषा है। और जहाँ उदारता है, स्वयं के प्रति आगे रहने की इच्छा नहीं है, वहाँ ड्रामा अनुसार स्वत: ही मनइच्छित फल प्राप्त हो ही जाता है। जितना स्वयं इच्छा मात्रम् अविद्या की स्थिति में रहते, उतना बाप और परिवार अच्छा, योग्य समझ उसको ही पहले रखते हैं। तो पहले आप मन से कहने वाले पीछे रह नहीं सकते। वह मन से पहले आप कहता तो सर्व द्वारा पहले आप हो ही जाता है। लेकिन इच्छा वाला नहीं। तो निश्चयबुद्धि की भाषा सदा उदारता वाली भाषा, सन्तुष्टता की भाषा, सर्व के कल्याण की भाषा। ऐसी भाषा वाले को कहेंगे निश्चयबुद्धि विजयी। निश्चयबुद्धि तो सभी हो ना? क्योंकि निश्चय ही फाउन्डेशन है।

लेकिन जब परिस्थितियों का, माया का, संस्कारों का, भिन्न-भिन्न स्वभावों का तूफान आता है तब मालूम पड़ता है निश्चय का फाउन्डेशन कितना मजबूत है। जैसे इस पुरानी दुनिया में भिन्न-भिन्न प्रकार के तूफान आते हैं ना। कभी वायु का, कभी समुद्र का… ऐसे यहाँ भी भिन्न-भिन्न प्रकार के तूफान आते हैं। तूफान क्या करता है? पहले उड़ाता है फिर फेंकता है। तो यह तूफान भी पहले तो अपनी तरफ मौज में उड़ाते हैं। अल्पकाल के नशे में ऊंचे ले जाते हैं क्योंकि माया भी जान गई है कि बिना प्राप्ति यह मेरी तरफ होने वाले नहीं है। तो पहले आर्टीफीशल प्राप्ति में ऊपर उड़ाती है। फिर नीचे गिरती कला में ले आती है। चतुर है। तो निश्चयबुद्धि की नज़र त्रिनेत्री होती है, तीसरे नेत्र से तीनों कालों को देख लेते हें, इसलिए कभी धोखा नहीं खा सकते। तो निश्चय की परख तूफान के समय होती है। जैसे तूफान बड़े-बड़े पुराने वृक्ष के फाउन्डेशन को उखाड़ लेते हैं। तो यह माया के तूफान भी निश्चय के फाउन्डेशन को उखेड़ने की कोशिश करते हैं। लेकिन रिजल्ट में उखड़ते कम हैं, हिलते ज्यादा हैं। हिलने से भी फाउन्डेशन कच्चा हो जाता है। तो ऐसे समय पर अपने निश्चय के फाउन्डेशन को चेक करो। वैसे कोई से भी पूछेंगे – निश्चय पक्का है? तो क्या कहेंगे? बहुत अच्छा भाषण करेंगे। अच्छा भी है निश्चय में रहना। लेकिन समय पर अगर निश्चय हिलता भी है तो निश्चय का हिलना अर्थात् जन्म-जन्म की प्रालब्ध से हिलना इसलिए तूफानों के समय चेक करो – कोई हद का मान-शान न दे वा व्यर्थ संकल्पों के रूप में माया का तूफान आये, जो चाहना रखते हो वह चाहना अर्थात् इच्छा पूर्ण न हो, ऐसे टाइम पर जो निश्चय है कि मैं समर्थ बाप की समर्थ आत्मा हूँ – वह याद रहता है वा व्यर्थ समर्थ के ऊपर विजयी हो जाता है? अगर व्यर्थ विजय प्राप्त कर लेता है तो निश्चय का फाउन्डेशन हिलेगा ना। समर्थ के बजाए अपने को कमजोर आत्मा अनुभव करेगा। दिलशिकस्त हो जायेंगे इसलिए कहते हैं कि तूफान के समय चेक करो। हद का मान-शान, मैं-पन रूहानी शान से नीचे ले आता है। हद की कोई भी इच्छा, इच्छा मात्रम् अविद्या के निश्चय से नीचे ले आती है। तो निश्चय का अर्थ यह नहीं है कि मैं शरीर नहीं, मैं आत्मा हूँ। लेकिन कौनसी आत्मा हूँ! वह नशा, वह स्वमान समय पर अनुभव हो, इसको कहते हैं निश्चयबुद्धि विजयी। कोई पेपर है ही नहीं और कहे – मैं तो पास विद् ऑनर हो गया, तो कोई उसको मानेगा? सर्टीफिकेट चाहिए ना। कितना भी कोई पास हो जाए, डिग्री ले लेवे लेकिन जब तक सर्टीफिकेट नहीं मिलता है तो वैल्यू नहीं होती। पेपर के समय पेपर दे पास हो सर्टीफिकेट ले – बाप से, परिवार से, तब उसको कहेंगे निश्चयबुद्धि विजयी। समझा? तो फाउन्डेशन को भी चेक करते रहो। निश्चयबुद्धि की विशेषता सुनी ना। जैसा समय वैसे रूहानी नशा जीवन में दिखाई दे। सिर्फ अपना मन खुश न हो लेकिन लोग भी खुश हों। सभी अनुभव करें कि हाँ यह नशे में रहने वाली आत्मा है। सिर्फ मनपसन्द नहीं लेकिन लोकपसन्द, बाप पसन्द। इसको कहते हैं विजयी। अच्छा!

सर्व निश्चयबुद्धि विजयी रत्नों को, सर्व निश्चिन्त, बेफिकर बच्चों को, सर्व निश्चित विजय के नशे में रहने वाले रूहानी आत्माओं को, सर्व तूफानों को पार कर तोफा अनुभव करने वाले विशेष आत्माओं को, सदा अचल, अडोल, एकरस स्थिति में स्थित रहने वाले निश्चयबुद्धि बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

विदेशी भाई बहिनों से बापदादा की मुलाकात :- अपने को समीप रत्न अनुभव करते हो? समीप रत्न की निशानी क्या है? वह सदा, सहज और स्वत: ज्ञानी तू आत्मा, योगी तू आत्मा, गुणमूर्त सेवाधारी अनुभव करेंगे। समीप रत्न के हर कदम में यह चार ही विशेषतायें सहज अनुभव होंगी, एक भी कम नहीं होगी। ज्ञान में कम हो, योग में तेज हो या दिव्यगुणों की धारणा में कमजोर हो, वह सबमें सदा ही सहज अनुभव करेगा। समीप रत्न किसी भी बात में मेहनत नहीं अनुभव करेंगे लेकिन सहज सफलता अनुभव करेंगे क्योंकि बापदादा बच्चों को संगमयुग पर मेहनत से ही छुड़ाते हैं। 63 जन्म मेहनत की है ना। चाहे शरीर की मेहनत की, चाहे मन की मेहनत की। बाप को प्राप्त करने के लिए भिन्न-भिन्न साधन अपनाते रहे। तो यह मन की मेहनत की। और धन की भी देखो, जो सर्विस करते हो, जिसको बापदादा नौकरी कहते, उसमें भी देखो कितनी मेहनत करते हो! उसमें भी तो मेहनत लगती है ना। और अभी आधाकल्प के लिए यह नौकरी नहीं करेंगे, इससे भी छूट जायेंगे। न लौकिक नौकरी करेंगे, न भक्ति करेंगे – दोनों से मुक्ति मिल जायेगी। अभी भी देखो, चाहे लौकिक कार्य करते भी हो लेकिन ब्राह्मण जीवन में आने से लौकिक कार्य करते हुए भी अन्तर लगता है ना। अभी यह लौकिक कार्य करते भी डबल लाइट रहते हो, क्यों? क्योंकि लौकिक कार्य करते भी यह खुशी रहती है कि यह कार्य अलौकिक सेवा के निमित्त कर रहे हैं। अपने मन की तो इच्छायें नहीं हैं ना। तो जहाँ इच्छा होती है वहाँ मेहनत लगती है। अभी निमित्त मात्र करते हो क्योंकि मालूम है कि तन, मन, धन – तीनों लगाने से एक का पद्मगुणा अविनाशी बैंक में जमा हो रहा है। फिर जमा किया हुआ खाते रहना। पुरूषार्थ से – योग लगाने का, ज्ञान सुनने-सुनाने का, इस मेहनत से भी छूट जायेंगे। कभी-कभी क्लासेज सुनकर थक जाते हैं ना। वहाँ तो लौकिक राजनीतिक पढ़ाई भी जो होगी ना, वह भी खेल-खेल में होगी, इतने किताब नहीं याद करने पड़ेंगे। सब मेहनत से छूट जायेंगे। कइयों को पढ़ाई का भी बोझ होता है। संगमयुग पर मेहनत से छूटने के संस्कार भरते हो। चाहे माया के तूफान आते भी हैं, लेकिन यह माया से विजय प्राप्त करना भी एक खेल समझते हो, मेहनत नहीं। खेल में भी क्या होता है? जीत प्राप्त करना होता है ना। तो माया से भी विजय प्राप्त करने का खेल करते हो। खेल लगता है या बड़ी बात लगती है? जब मास्टर सर्वशक्तिवान स्टेज पर स्थित होते हो तो खेल लगेगा। और ही चैलेन्ज करते हो कि आधाकल्प के लिए विदाई लेकर जाओ। तो विदाई समारोह मनाने आती है, लड़ने नहीं आती है। विजयी रत्न हर समय, हर कार्य में विजयी हैं। विजयी हो ना? (हाँ जी) तो वहाँ जाकर भी ‘हाँ जी करना’। फिर भी अच्छे बहादुर हो गये हैं। पहले थोड़े जल्दी घबरा जाते थे, अभी बहादुर हो गये हैं। अभी अनुभवी हो गये हैं। तो अनुभव की अथॉरिटी वाले हो गये, परखने की भी शक्ति आ गई है, इसलिए घबराते नहीं हैं। अनेक बार के विजयी थे, हैं और रहेंगे – यही स्मृति सदा रखना। अच्छा!

विदाई के समय दादियों से (दादी जानकी बम्बई से 3-4 दिन का चक्र लगाकर आई है) अभी से ही चक्रवर्ती बन गई। अच्छा है, यहाँ भी सेवा है, वहाँ भी सेवा की। यहाँ रहते भी सेवा करते और जहाँ जाते वहाँ भी सेवा हो जाती। सेवा का ठेका बहुत बड़ा लिया है। बड़े ठेकेदार हो ना। छोटे-छोटे ठेकेदार तो बहुत हैं लेकिन बड़े ठेकेदार को बड़ा काम करना पड़ता है। (बाबा आज मुरली सुनते बहुत मजा आया) है ही मजा। अच्छा है, आप लोग कैच करके औरों को क्लीयर कर सकते हो। सभी तो एक जैसे कैच कर नहीं सकते। जैसे जगदम्बा मुरली सुनकर क्लीयर करके, सहज करके सभी को धारण कराती रही, ऐसे अभी आप निमित्त हो। कई नये-नये तो समझ भी नहीं सकते हैं। लेकिन बापदादा सिर्फ सामने वालों को नहीं देखते। जो बैठे हैं सभा में, उन्हें ही नहीं देखते, सभी को सामने रखते हैं। फिर भी सामने अनन्य होते हैं तो उन्हों के प्रति निकलता है। आप लोग तो पढ़कर भी कैच कर सकते हो। अच्छा!

वरदान:- व्यर्थ की लीकेज को समाप्त कर समर्थ बनने वाले कम खर्च बालानशीन भव
संगमयुग पर बापदादा द्वारा जो भी खजाने मिले हैं उन सर्व खजानों को व्यर्थ जाने से बचाओ तो कम खर्च बालानशीन बन जायेंगे। व्यर्थ से बचाव करना अर्थात् समर्थ बनना। जहाँ समर्थी है वहाँ व्यर्थ जाये – यह हो नहीं सकता। अगर व्यर्थ की लीकेज है तो कितना भी पुरुषार्थ करो, मेहनत करो लेकिन शक्तिशाली बन नहीं सकते इसलिए लीकेज़ को चेक कर समाप्त करो तो व्यर्थ से समर्थ हो जायेंगे।
स्लोगन:- प्रवृत्ति में रहते सम्पूर्ण पवित्र रहना – यही योगी व ज्ञानी तू आत्मा की चैलेन्ज है।

TODAY MURLI 9 MAY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 9 May 2020

09/05/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you souls have love for the one Father. The Father has taught you to have love for souls and not bodies.
Question: While you are making which effort does Maya create obstacles? What is the way to become a conqueror of Maya?
Answer: You make effort to remember the Father so that your sins can be burnt away. Therefore, it is in this remembrance that Maya creates obstacles. The Father, the Master, shows you ways to become a conqueror of Maya. Remember the Master with that recognition and you will remain happy and you will continue to make effort and do a lot of service and you will then become a conqueror of Maya.
Song: Take us away from this world of sin to a place of rest and comfort.

Om shanti. You spiritual children heard the song and understood the meaning of it. No one in the world outside knows its meaning. You children understand that the love of you souls is for the Supreme Father, the Supreme Soul. Souls call out to their Father, the Supreme Father, the Supreme Soul. Is your love for souls or for bodies? The Father now teaches you that love should be for souls. The bodies are to be destroyed. Love is in the souls. Baba explains to you that your love should now be for the Father, the Supreme Soul, and not for bodies. Souls call out to their Father to come and take them to a world of charitable souls. You understand that you were sinful souls and that you are now becoming charitable souls. The Father is making you into charitable souls in a wise way (yukti). It is only when the Father comes Himself and tells you children this that you understand and experience that you are becoming pure, charitable souls by having remembrance of the Father. Your sins are being burnt away with the power of yoga. Sins cannot be washed away by bathing in the Ganges. People go to bathe in the Ganges and rub that mud on their bodies but their sins are not washed away by doing that. Sins can only be removed from the soul with the power of yoga. The alloy is removed. Only you children know and have the faith that your sins will be burnt away by remembering the Father. If you have faith, you should make effort to have remembrance. It is while you are making this effort that Maya creates obstacles. Maya becomes powerful and battles with the powerful ones very well. Why would she battle with weak ones? You children should always be aware that you have to become conquerors of Maya and conquerors of the world. No one understands the real meaning of conquering the world by conquering Maya. It is now being explained to you children how you can gain victory over Maya. Maya too is powerful. You children have found the Master. Hardly anyone knows that Master and that, too, numberwise. Those who know Him have that happiness. They make effort by themselves and also do a lot of service. Many people go to Amarnath. Now, all human beings ask how there can be peace in the world. You now show everyone how there was peace and happiness in the golden age; there was peace over the whole world. At that time, it was the kingdom of Lakshmi and Narayan; there were no other religions then. It was 5000 years before today that the golden age came into existence. The world definitely has to go around the cycle. This is shown very clearly in the pictures. The pictures were also created in the previous cycle. These continue to be improved day by day. Sometimes, children forget to write the dates etc. on the pictures. There should definitely be the dates etc. on the pictures of Lakshmi and Narayan. It is in the intellects of you children that you were residents of heaven and that you are now to become those again. You will claim a status to the extent that you make effort. You are now being made authorities of knowledge by the Father. Devotion is now about to end. There won’t be any devotion in the golden and silver ages. Devotion continues for half the cycle later on. It is only now that you children understand this. After half the cycle, the kingdom of Ravan begins. The whole play is about you people of Bharat. The cycle of 84 births is for Bharat. Previously, you didn’t know that Bharat was the imperishable land. Lakshmi and Narayan were called a god and goddess. The status you claim is so elevated and yet this study is so easy! We will complete the cycle of 84 births and then return home. When you speak of the cycle of 84 births, your intellects go upwards. You now remember the incorporeal world, the subtle region and the corporeal world. Previously, you didn’t know what the subtle region was. You now understand how you communicate with one another in the “movie” there. There used to be “movie” films. This makes it easy for you to explain: silencemovie and talkie. Your intellects are now aware of the whole cycle from the kingdom of Lakshmi and Narayan to the present time. While living at home with your families, your only concern should be that you have to become pure. The Father explains: While living at home with your families, finish all attachment to the old world. You have to look after your children etc., but let your intellects be focused on the Father. It is said: While working with your hands, let your intellects be with the Father. While feeding your children and bathing them etc., let there be remembrance of the Father in your intellect because you know that a huge burden of sin has been accumulated. That is why your intellects should go to the Father. Remember that Beloved a great deal. The Father, the Beloved, tells all of you souls: Remember Me! This part is now being enacted again and it will repeat again after 5000 years. The Father shows you such an easy method. There is no other difficulty. Some say that they are not able to do this, that they find it very difficult and that the pilgrimage of remembrance is very difficult. Oh! But, can’t you remember the Father? You should not forget the Father. The Father has to be remembered very well because it is only by doing this that your sins can be absolved and you become everhealthy. Otherwise, you won’t be able to become this. You are receiving very good, sound advice. This is a medicine that is fully effective too. I guarantee that through this power of yoga you will never have any illness for 21 births. Simply remember the Father! It is such an easy method. On the path of devotion, people remember God out of ignorance. The Father now sits here and explains to you. You understand that you came to Baba in the previous cycle too and that you also made effort then. You now have the firm faith that you used to rule the kingdom and that you then lost it. Now that Baba has come again, you have to claim your fortune of the kingdom from Him again. The Father says: Remember Me and the kingdom! Manmanabhav! Your final thoughts will lead you to your destination. The drama is now coming to an end. We are to return home. Baba has come to take everyone back home just as a bridegroom comes to take his bride home. Brides become very happy that they are going to go to their in-laws’ home. All of you are Sitas who belong to the one Rama. Only Rama can release you from Ravan’s jail and take you back home. The Liberator is only One and He liberates you from the kingdom of Ravan. Although people do say, “This is the kingdom of Ravan,” they don’t understand this accurately. This is now being explained to you children. You are being given very good points to explain to others. Baba has told you to write: Peace is being established in the world by the Father as it was in the previous cycle. Establishment is taking place through Brahma. There used to be peace in the world when it was the kingdom of Vishnu. Hardly anyone understands that Vishnu is Lakshmi and Narayan. They consider Vishnu, Lakshmi and Narayan and Radhe and Krishna to be separate. You now understand this. You are the ones who spin the discus of self-realisation. Shiv Baba comes and gives you the knowledge of the world cycle. We are now being made master oceans of knowledge by Him. You are rivers of knowledge. This name is given to you children. People on the path of devotion wander around so much going to bathe. They also perform a lot of charity and give donations. Wealthy ones give a lot in donation. They even donate gold. You now understand how much you used to wander around. You are not hatha yogis; you are Raja Yogis. You used to belong to the pure household path and you then became impure in the kingdom of Ravan. The Father is now establishing the household religion according to the drama. No one else can create this pure path. People ask you: If all of you remain pure, how would the world continue? Tell them: So many sannyasis remain pure, yet the world hasn’t stopped, has it? The world population has now grown so much that there isn’t enough for people to eat. There’s not enough grain, and so what’s the point of making the world population grow even more? You children now understand that Baba is present in front of you. However, you cannot see Him with your physical eyes. It is with your intellects that you souls understand that Baba is ever present in front of you and teaches you. Tell those who speak about world peace that the Father is now establishing peace in the world. Destruction of the old world is in front of us because of this. Destruction also took place 5000 years ago. Even now, destruction is in front of everyone. Then, there will be peace in the world. These things are only in the intellects of you children. No one else in the world knows these things. No one else’s intellect is aware of these things. You know that there was peace in the whole world in the golden age. At that time, there was no land other than Bharat; all the other lands came later. There are now so many lands. It is now the end of this play. People say that God definitely does exist, but they don’t know who He is or in what form He comes. It cannot be Krishna. No one could make you to do anything through inspiration or his own power. The Father is the most beloved. You receive your inheritance from Him. The Father creates heaven. Therefore, He would surely inspire the destruction of the old world. You know that Lakshmi and Narayan existed in the golden age. They are now becoming that again through their own efforts. There should be this intoxication. They used to rule in Bharat. Shiv Baba gave that kingdom and departed. You wouldn’t say that Shiv Baba ruled that kingdom and then departed; no. He departed after giving the people of Bharat that kingdom. Lakshmi and Narayan used to rule that kingdom. Baba has come to give us the kingdom once again. He says: Sweet children, remember Me and spin the cycle. You have taken 84 births. When someone makes less effort, you can understand that he has done less devotion. Those who have done a lot of devotion will make a lot of effort. Baba explains everything so clearly! However, it has to sit in your intellects. Your duty is to make effort. If you have done less devotion, you will not be able to have yoga. Remembrance of Shiv Baba will not stay in your intellects. Never become slack in making effort. When you see how powerful Maya is, don’t have heart failure. Many storms of Maya will come. It has also been explained to you children that it is the souls that do everything. The bodies will be destroyed. When a soul leaves his body, the body turns to dust. That body will not be taken again. So, what then is the benefit of remembering it and crying? Would that same body be taken again? That soul has already left and taken another body. You are now earning such a huge income! You are crediting your account, whereas everyone else is debiting their account. Baba is the Innocent Businessman. This is why He gives you palaces for 21 births in return for a handful of rice. He gives so much interest! You can accumulate as much as you want for the future. However, do not think that you can give that to Him at the end. What would He do with it at that time? He is not a foolish businessman. Of what use would it be if He couldn’t use it but yet had to give interest for it? He wouldn’t take anything from such people. You receive palaces for 21 births in return for a handful of rice. You receive so much interest. Baba says: I am the number one innocent One. I give you the kingdom of the world. Simply belong to Me and do service. It is because He is the Innocent Lord that everyone remembers Him. You are now on the path of knowledge. Now follow the Father’s shrimat and claim your kingdom. You tell Baba that you have come to claim your kingdom and, that too, in the sun dynasty. Achcha. May your mouth be sweetened (May it happen practically). Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Claim the kingdom by following shrimat. Give a handful of rice and claim a palace for 21 births. Accumulate an income for the future.
  2. While living at home with your family, finish all your attachment to the old world and become completely pure. While doing everything, keep your intellect focused on the Father.
Blessing: May you be truly loving and constantly experience the company of Father Brahma, the one with a thousand arms.
At present, the part of Father Brahma with a thousand arms is being enacted. Just as arms are not able to do anything without the soul, in the same way, the arms, that is, the children, cannot do anything without BapDada. In every task, there is first the Father’s help. While the part of establishment is being played, BapDada is with the children in every thought and at every second. Therefore, do not put up a curtain of separation and be separated in yoga. Move along in the waves of the ocean of love, sing His praise, but do not become hurt. The practical form of love for the Father is to be loving.
Slogan: The experience and practice of the bodiless stage is the basis for claiming a number ahead.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 MAY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 May 2020

Murli Pdf for Print : – 

09-05-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम आत्माओं का प्यार एक बाप से है, बाप ने तुम्हें आत्मा से प्यार करना सिखलाया है, शरीर से नहीं”
प्रश्नः- किस पुरूषार्थ में ही माया विघ्न डालती है? मायाजीत बनने की युक्ति क्या है?
उत्तर:- तुम पुरूषार्थ करते हो कि हम बाप को याद करके अपने पापों को भस्म करें। तो इस याद में ही माया का विघ्न पड़ता है। बाप उस्ताद तुम्हें मायाजीत बनने की युक्ति बताते हैं। तुम उस्ताद को पहचान कर याद करो तो खुशी भी रहेगी, पुरूषार्थ भी करते रहेंगे और सर्विस भी खूब करेंगे। माया-जीत भी बन जायेंगे।
गीत:- इस पाप की दुनिया से……..

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों ने गीत सुना, अर्थ समझा। दुनिया में कोई भी अर्थ नहीं समझते। बच्चे समझते हैं हमारी आत्मा का लव परमपिता परमात्मा के साथ है। आत्मा अपने बाप परमपिता परम आत्मा को पुकारती है। प्यार आत्मा में है या शरीर में? अब बाप सिखलाते हैं प्यार आत्मा में होना चाहिए। शरीर तो खत्म हो जाना है। प्यार आत्मा में है। अब बाप समझाते हैं तुम्हारा प्यार परमात्मा बाप से होना चाहिए, शरीरों से नहीं। आत्मा ही अपने बाप को पुकारती है कि पुण्य आत्माओं की दुनिया में ले चलो। तुम समझते हो – हम पाप आत्मा थे, अब फिर पुण्य आत्मा बन रहे हैं। बाबा तुमको युक्ति से पुण्य आत्मा बना रहे हैं। बाप बतावे तब तो बच्चों को अनुभव हो और समझें कि हम बाप द्वारा बाप की याद से पवित्र पुण्य आत्मा बन रहे हैं। योगबल से हमारे पाप भस्म हो रहे हैं। बाकी गंगा आदि में कोई पाप धोये नहीं जाते। मनुष्य गंगा स्नान करते हैं, शरीर को मिट्टी मलते हैं परन्तु उससे कोई पाप धुलते नहीं हैं। आत्मा के पाप योगबल से ही निकलते हैं। खाद निकलती है, यह तो बच्चों को ही मालूम है और निश्चय है हम बाबा को याद करेंगे तो हमारे पाप भस्म होंगे। निश्चय है तो फिर पुरूषार्थ करना चाहिए ना। इस पुरूषार्थ में ही माया विघ्न डालती है। रूसतम से माया भी अच्छी रीति रूसतम होकर लड़ती है। कच्चे से क्या लड़ेगी! बच्चों को हमेशा यह ख्याल रखना है, हमको मायाजीत जगतजीत बनना है। माया जीते जगत जीत का अर्थ भी कोई समझते नहीं। अभी तुम बच्चों को समझाया जाता है – तुम कैसे माया पर जीत पा सकते हो। माया भी समर्थ है ना। तुम बच्चों को उस्ताद मिला हुआ है। उस उस्ताद को भी नम्बरवार कोई विरला जानता है। जो जानता है उनको खुशी भी रहती है। पुरूषार्थ भी खुद करते हैं। सर्विस भी खूब करते हैं। अमरनाथ पर बहुत लोग जाते हैं।

अब सभी मनुष्य कहते हैं विश्व में शान्ति कैसे हो? अभी तुम सबको सिद्ध कर बतलाते हो कि सतयुग में कैसे सुख-शान्ति थी। सारे विश्व पर शान्ति थी। इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, कोई और धर्म नहीं था। आज से 5 हज़ार वर्ष हुए जबकि सतयुग था फिर सृष्टि को चक्र तो जरूर लगाना है। चित्रों से तुम बिल्कुल क्लीयर बताते हो, कल्प पहले भी ऐसे चित्र बनाये थे। दिन-प्रतिदिन इप्रूवमेंट होती जाती है। कहाँ बच्चे चित्रों में तिथि-तारीख लिखना भूल जाते हैं। लक्ष्मी-नारायण के चित्र में तिथि-तारीख जरूर होनी चाहिए। तुम बच्चों की बुद्धि में बैठा हुआ है ना कि हम स्वर्गवासी थे, अब फिर बनना है। जितना जो पुरूषार्थ करते हैं उतना पद पाते हैं। अभी बाप द्वारा तुम ज्ञान की अथॉरिटी बने हो। भक्ति अब खलास हो जानी है। सतयुग-त्रेता में भक्ति थोड़ेही होगी। बाद में आधाकल्प भक्ति चलती है। यह भी अभी तुम बच्चों को समझ में आता है। आधाकल्प के बाद रावण राज्य शुरू होता है। सारा खेल तुम भारतवासियों पर ही है। 84 का चक्र भारत पर ही है। भारत ही अविनाशी खण्ड है, यह भी आगे थोड़ेही पता था। लक्ष्मी-नारायण को गॉड-गॉडेज कहते हैं ना। कितना ऊंच पद है और पढ़ाई कितनी सहज है। यह 84 का चक्र पूरा कर फिर हम वापिस जाते हैं। 84 का चक्र कहने से बुद्धि ऊपर चली जाती है। अभी तुमको मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन सब याद है। आगे थोड़ेही जानते थे – सूक्ष्मवतन क्या होता है। अभी तुम समझते हो वहाँ कैसे मूवी में बातचीत करते हैं। मूवी बाइसकोप भी निकला था। तुमको समझाने में सहज होता है। साइलेन्स, मूवी, टॉकी। तुम सब जानते हो लक्ष्मी-नारायण के राज्य से लेकर अब तक सारा चक्र बुद्धि में है।

तुम्हें गृहस्थ व्यवहार में रहते यही ओना लगा रहे कि हमको पावन बनना है। बाप समझाते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते भी इस पुरानी दुनिया से ममत्व मिटा दो। बच्चों आदि को भल सम्भालो। परन्तु बुद्धि बाप के तरफ हो। कहते हैं ना – हाथों से काम करते बुद्धि बाप तरफ रहे। बच्चों को खिलाओ, पिलाओ, स्नान कराओ, बुद्धि में बाप की याद हो क्योंकि जानते हो शरीर पर पापों का बोझ बहुत है इसलिए बुद्धि बाप की तरफ लगी रहे। उस माशूक को बहुत-बहुत याद करना है। माशूक बाप तुम सब आत्माओं को कहते हैं मुझे याद करो, यह पार्ट भी अब चल रहा है फिर 5 हज़ार वर्ष बाद चलेगा। बाप कितनी सहज युक्ति बताते हैं। कोई तकलीफ नहीं। कोई कहे हम तो यह कर नहीं सकते, हमको बहुत तकलीफ भासती है, याद की यात्रा बहुत मुश्किल है। अरे, तुम बाबा को याद नहीं कर सकते हो! बाप को थोड़ेही भूलना चाहिए। बाप को तो अच्छी रीति याद करना है तब विकर्म विनाश होंगे और तुम एवर हेल्दी बनेंगे। नहीं तो बनेंगे नहीं। तुमको राय बहुत अच्छी एक टिक मिलती है। एक टिक दवाई होती है ना। हम गैरन्टी करते हैं इस योगबल से तुम 21 जन्मों के लिए कभी रोगी नहीं बनेंगे। सिर्फ बाप को याद करो – कितनी सहज युक्ति है। भक्तिमार्ग में याद करते थे अनजाने से। अब बाप बैठ समझाते हैं, तुम समझते हो हम कल्प पहले भी बाबा आपके पास आये थे, पुरूषार्थ करते थे। पक्का निश्चय हो गया है। हम ही राज्य करते थे फिर हमने गँवाया अब फिर बाबा आया हुआ है, उनसे राज्य-भाग्य लेना है। बाप कहते हैं मुझे याद करो और राजाई को याद करो। मन्मनाभव। अन्त मती सो गति हो जायेगी। अभी नाटक पूरा होता है, वापिस जायेंगे। बाबा आये हैं सबको ले जाने लिए। जैसे वर, वधू को लेने लिए आते हैं। ब्राइड्स को बहुत खुशी होती है, हम अपने ससुराल जाते हैं। तुम सब सीतायें हो एक राम की। राम ही तुमको रावण की जेल से छुड़ाकर ले जाते हैं। लिबरेटर एक ही है, रावणराज्य से लिबरेट करते हैं। कहते भी हैं – यह रावणराज्य है, परन्तु यथार्थ रीति समझते नहीं हैं। अभी बच्चों को समझाया जाता है, औरों को समझाने के लिए बहुत अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स दी जाती हैं। बाबा ने समझाया – यह लिख दो कि विश्व में शान्ति कल्प पहले मुआफिक बाप स्थापन कर रहे हैं। ब्रह्मा द्वारा स्थापना हो रही है। विष्णु का राज्य था तो विश्व में शान्ति थी ना। विष्णु सो लक्ष्मी-नारायण थे, यह भी कोई समझते थोड़ेही हैं। विष्णु और लक्ष्मी-नारायण और राधे-कृष्ण को अलग-अलग समझते हैं। अभी तुमने समझा है, स्वदर्शन चक्रधारी भी तुम हो। शिवबाबा आकर सृष्टि चक्र का ज्ञान देते हैं। उन द्वारा अभी हम भी मास्टर ज्ञान सागर बने हैं। तुम ज्ञान नदियां हो ना। यह तो बच्चों के ही नाम हैं।

भक्ति मार्ग में मनुष्य कितने स्नान करते हैं, कितना भटकते हैं। बहुत दान-पुण्य आदि करते हैं, साहूकार लोग तो बहुत दान करते हैं। सोना भी दान करते हैं। तुम भी अभी समझते हो – हम कितना भटकते थे। अब हम कोई हठयोगी तो हैं नहीं। हम तो हैं राजयोगी। पवित्र गृहस्थ आश्रम के थे, फिर रावणराज्य में अपवित्र बने हैं। ड्रामा अनुसार बाप फिर गृहस्थ धर्म बना रहे हैं और कोई बना न सके। मनुष्य तुमको कहते हैं कि तुम सब पवित्र बनोंगे तो दुनिया कैसे चलेगी? बोलो, इतने सब संन्यासी पवित्र रहते हैं फिर दुनिया कोई बंद हो गई है क्या? अरे सृष्टि इतनी बढ़ गई है, खाने के लिए अनाज भी नहीं और सृष्टि फिर क्या बढ़ायेंगे। अभी तुम बच्चे समझते हो, बाबा हमारे सम्मुख हाज़िर-नाज़िर है, परन्तु उनको इन आंखों से देख नहीं सकते। बुद्धि से जानते हैं, बाबा हम आत्माओं को पढ़ाते हैं, हाज़िर-नाज़िर हैं।

जो विश्व शान्ति की बातें करते हैं, उन्हें तुम बताओ कि विश्व में शान्ति तो बाप करा रहा है। उसके लिए ही पुरानी दुनिया का विनाश सामने खड़ा है, 5 हज़ार वर्ष पहले भी विनाश हुआ था। अभी भी यह विनाश सामने खड़ा है फिर विश्व पर शान्ति हो जायेगी। अभी तुम बच्चों की बुद्धि में हैं ही यह बातें। दुनिया में कोई नहीं जानते। कोई नहीं जिनकी बुद्धि में यह बातें हो। तुम जानते हो सतयुग में सारे विश्व पर शान्ति थी। एक भारत खण्ड के सिवाए दूसरा कोई खण्ड नहीं था। पीछे और खण्ड हुए हैं। अभी कितने खण्ड हैं। अभी इस खेल का भी अन्त है। कहते भी हैं भगवान जरूर होगा, परन्तु भगवान कौन और किस रूप में आते हैं। यह नहीं जानते। कृष्ण तो हो न सके। न कोई प्रेरणा से वा शक्ति से काम करा सकते हैं। बाप तो मोस्ट बिलवेड है, उनसे वर्सा मिलता है। बाप ही स्वर्ग स्थापन करते हैं तो फिर जरूर पुरानी दुनिया का विनाश भी वह करायेंगे। तुम जानते हो सतयुग में यह लक्ष्मी-नारायण थे। अब फिर खुद पुरूषार्थ से यह बन रहे हैं। नशा रहना चाहिए ना। भारत में राज्य करते थे। शिवबाबा राज्य देकर गया था, ऐसे नहीं कहेंगे शिवबाबा राज्य करके गया था। नहीं। भारत को राज्य देकर गया था। लक्ष्मी-नारायण राज्य करते थे ना। फिर बाबा राज्य देने आये हैं। कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चे, तुम मुझे याद करो और चक्र को याद करो। तुमने ही 84 जन्म लिए हैं। कम पुरूषार्थ करते हैं तो समझो इसने कम भक्ति की है। जास्ती भक्ति करने वाले पुरूषार्थ भी जास्ती करेंगे। कितना क्लीयर कर समझाते हैं परन्तु जब बुद्धि में बैठे। तुम्हारा काम है पुरूषार्थ कराना। कम भक्ति की होगी तो योग लगेगा नहीं। शिवबाबा की याद बुद्धि में ठहरेगी नहीं। कभी भी पुरूषार्थ में ठण्डा नहीं होना चाहिए। माया को पहलवान देख हार्ट फेल नहीं होना चाहिए। माया के तूफान तो बहुत आयेंगे। यह भी बच्चों को समझाया है, आत्मा ही सब कुछ करती है। शरीर तो खत्म हो जायेगा। आत्मा निकल गई, शरीर मिट्टी हो गया। वह फिर मिलने का तो है नहीं। फिर उनको याद कर रोने आदि से फायदा ही क्या। वही चीज़ फिर मिलेगी क्या। आत्मा ने तो जाकर दूसरा शरीर लिया। अभी तुम कितनी ऊंच कमाई करते हो। तुम्हारा ही जमा होता है, बाकी सबका ना हो जायेगा।

बाबा भोला व्यापारी है तब तो तुमको मुट्ठी चावल के बदले 21 जन्मों के लिए महल दे देता है, कितना ब्याज देता है। तुमको जितना चाहिए भविष्य के लिए जमा करो। परन्तु ऐसे नहीं, अन्त में आकर कहेंगे जमा करो, तो उस समय लेकर क्या करेंगे। अनाड़ी व्यापारी थोड़ेही है। काम में आवे नहीं और ब्याज भरकर देना पड़े। ऐसे का लेंगे थोड़ेही। तुमको मुट्ठी चावल के बदले 21 जन्मों के लिए महल मिल जाते हैं। कितना ब्याज मिलता है। बाबा कहते हैं नम्बरवन भोला तो मैं हूँ। देखो तुमको विश्व की बादशाही देता हूँ, सिर्फ तुम हमारे बनकर सर्विस करो। भोलानाथ है तब तो उनको सब याद करते हैं। अब तुम हो ज्ञान मार्ग में। अब बाप की श्रीमत पर चलो और बादशाही लो। कहते भी हैं बाबा हम आये हैं राजाई लेने। सो भी सूर्यवंशी में। अच्छा, तुम्हारा मुख मीठा हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) श्रीमत पर चल बादशाही लेनी है। चावल मुट्ठी दे 21 जन्मों के लिए महल लेने हैं। भविष्य के लिए कमाई जमा करनी है।

2) गृहस्थ व्यवहार में रहते इस पुरानी दुनिया से ममत्व मिटाकर पूरा पावन बनना है। सब कुछ करते बुद्धि बाप की तरफ लगी रहे।

वरदान:- हजार भुजा वाले ब्रह्मा बाप के साथ का निरन्तर अनुभव करने वाले सच्चे स्नेही भव
वर्तमान समय हजार भुजा वाले ब्रह्मा बाप के रूप का पार्ट चल रहा है। जैसे आत्मा के बिना भुजा कुछ नहीं कर सकती वैसे बापदादा के बिना भुजा रूपी बच्चे कुछ नहीं कर सकते। हर कार्य में पहले बाप का सहयोग है। जब तक स्थापना का पार्ट है तब तक बापदादा बच्चों के हर संकल्प और सेकण्ड में साथ-साथ है इसलिए कभी भी जुदाई का पर्दा डाल वियोगी नहीं बनो। प्रेम के सागर की लहरों में लहराओ, गुणगान करो लेकिन घायल नहीं बनो। बाप के स्नेह का प्रत्यक्ष स्वरूप सेवा के स्नेही बनो।
स्लोगन:- अशरीरी स्थिति का अनुभव व अभ्यास ही नम्बर आगे आने का आधार है।

TODAY MURLI 9 MAY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 9 May 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 8 May 2019 :- Click Here

09/05/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Shiv Baba is the wonderful Father, Teacher and Satguru. He doesn’t have a father of His own. He never learns anything from anyone. He doesn’t need to have a guru. You should remember Him with such wonder.
Question: What newness should there be in remembrance so that the soul can easily become pure?
Answer: When you sit in remembrance, continue to draw a current from the Father. You look at the Father and the Father looks at you. It is such remembrance that purifies the soul. This remembrance is very easy, but children repeatedly forget that they are souls and not bodies. Only soul-conscious children can stay in remembrance.

Om shanti. You sweetest children have the faith that our Father is the unlimited Father and that He doesn’t have a father of His own. There isn’t any human being in the world who doesn’t have a father. Each and every point has to be understood very clearly and the One who is giving you this knowledge is the One who has never studied. Human beings, otherwise, definitely study one thing or another. Krishna too studied. The Father asks: What would I study? I have come to teach you. I have not studied with anyone. I haven’t taken teachings from anyone. I haven’t adopted any gurus. According to the dramaplan, the praise of the Father would definitely be the highest of all. It is remembered that God is the Highest on High. Who could be higher than Him! No father, teacher or guru. That unlimited Father has no father, teacher or guru. He, Himself, is the Father, Teacher and Guru. You can understand this very well. There cannot be such a human being. You have to remember such a Father, Teacher and Satguru with such wonder. People say: O God, the Father! He is also the knowledge-full Teacher and the Supreme Guru. He is the only One; there isn’t another being like Him. He has to teach you through a human body. He definitely needs a mouth in order to teach you. If you children repeatedly remember this, your boats can go across. Only by having remembrance will your sins be absolved. By knowing Him as the Supreme Teacher, all the knowledge will enter your intellects. He is also the Satguru who is teaching us yoga. You have to have yoga with the One alone. All souls have the one Father. He says to all souls: Constantly remember Me alone. It is the soul that does everything. It is the soul that controls the motor, the body. You can call it a chariot or anything else; the soul is the main one that controls everything. The Father of all souls is the One. You even say that all of you are brothers. We are all brothers, children of the one Father. Then, when the Father enters the body of Prajapita Brahma, we have to become brothers and sisters. The mouth-born creation of Prajapita Brahma would be brothers and sisters. A brother can never marry his sister. So, all of you are Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. By considering yourselves to be brothers and sisters, you become the lovely children of God’s community. You would say that you are the direct community of God. God, Baba, is teaching us everything. He hasn’t learnt anything from anyone. He is always perfect. His degrees never decrease whereas the degrees of everyone else do. We praise Shiv Baba a lot. It is very easy to say, “Shiv Baba”. It is only the Father who is the Purifier. It doesn’t seem right simply to say “God”. How the Father comes and makes all impure ones pure now touches your hearts. There is your physical father and also your parlokik Father. Everyone remembers the parlokik Father. They remember Him because they are impure. Once you have become pure, there is no need to call out to the Purifier. Look what the drama is like! You remember the Purifier Father because you want to become the masters of the pure world. In the scriptures, they have shown a battle between the deities and the devils, but it is not like that. You now understand that we are neither deities nor devils. We are now in between the two. Everyone continues to grind this into you. This is a very enjoyable play. In a play you just watch the entertainment. All of those are limited drama whereas this is the unlimited drama. No one else knows it. Even deities cannot know it. You have now come away from the iron age. Those who know it can also explain to others. Once you have seen a particular drama, the whole of that drama stays in your intellect. Baba has explained to you that this is the human world tree and that its Seed is up above. They speak of the variety-form image. The Father sits here and explains to you children. People don’t know this. Would Shiv Baba have learnt a language from anyone? Since He doesn’t have a teacher, what language would He have learnt? So, He would definitely use the language of the chariot He has entered. He doesn’t have a language of His own. He doesn’t study or learn anything. He doesn’t have a teacher of His own. Krishna learns everything. He has a mother, father and teacher. He doesn’t need a guru because he has already received salvation. Only you know this. You Brahmins are the highest of all. You have to keep this in your awareness. It is the Father who is teaching us. We are now Brahmins. It is very clear: Brahmins, then deities …. You say of God that He knows everything, but you don’t know what it is that He knows. He is knowledge-fullHe has the knowledge of the beginning, middle and end of the whole world. A seed has the knowledge of the whole tree. Those are non-living seeds whereas you are living. You explain the knowledge of your tree. The Father says: I am the Seed of this variety human world. All are human beings, but there is variety. The features of the body of not a single soul can be the same as those of another. No two actors can be the same. This is the unlimited drama. We don’t refer to human beings as actors, but to souls as actors. Those people consider human beings to be actors. It is in your intellects that you souls are actors. Those people dance. Just as people make monkeys dance, so too, it is the soul that makes the body dance; he makes it play his part. These things are very easy to understand. The unlimited Father definitely comes. It isn’t that He doesn’t come. There is also the birth of Shiva. The Father comes when the world has to change. On the path of devotion, they continue to remember Krishna, but how could Krishna come? It is not possible to see the form of Krishna with the physical eyes in the iron age or the confluence age. So, how can he be called God? He is the number one prince of the golden age. He has a father and a teacher but doesn’t need a guru because he is in salvation. Heaven is called salvation. The account is clear. You children understand that human beings take 84 births. You show the account of how many births they take. The deity clan definitely comes first. Their births are the first births. When the first one takes birth, all the others come after him. You know these things. Some of you also understand these things very well. Just as it is easy in those studies, so this too is very easy. There is just one incognito difficulty. Maya creates obstacles in your having remembrance of the Father because Maya, Ravan, is jealous. When you remember Rama, Ravan is jealous, thinking: Why is my slave remembering Rama? This is also fixed in the drama in advance. It is not anything new. You will play the same parts that you played in the previous cycle. You are now making effort. You are making the same effort that you made in the previous cycle. This cycle continues to turn; it never ends. Time continues to tick away. The Father explains that this is the drama of 5000 years. They have written such different things in the scriptures! The Father never asks you to stop doing devotion because if you were then unable to continue here, and you had also let go of that, you would be neither here nor there. You would then be of no use. This is why you see that some human beings are such that they don’t perform any devotion; they simply continue to move along in life just like that. Some say that God, Himself, adopts many forms. Oh! But this is the eternally predestined, unlimited drama which continues to repeat. This is why it is called the eternal, imperishable world drama. Only you children can understand it, and it is very easy for you kumaris. The mothers have to climb down the ladder that they climbed up. Kumaris don’t have any other bondages. They don’t have any other thoughts; they can just belong to the Father. You have to forget the worldly relationships and forge the parlokik relationship. In the iron age, there is degradation. According to the drama, you have to come down. The people of Bharat say that all of this belongs to God. He is the Master. Who are you? I am a soul, but all of this belongs to God; all of this, including this body etc., have been given by the Supreme Soul. They say this and that is fine. They say that everything has been given by God. Achcha, so you should not then have any dishonesty in looking after that which has been given to you. However, they don’t understand this. They simply follow the directions of Ravan. The Father explains: You are trustees but, because this is the community of Ravan, you deceive yourselves in being trustees. You say one thing and you do something else. The Father gave you something and then took it away, and so why should you feel sorrow about that? The Father explains all of these things to His children in order to finish their attachment. The Father has now come. You called out: Baba, take us with You! We are very unhappy in the kingdom of Ravan! Come and make us pure! This is because you understand that you cannot go back without becoming pure. Take us with You! Where? Take us home! Everyone says that they want to go home. The devotees of Krishna want to go to Paradise, the land of Krishna. They simply continue to remember the golden age. It is something so lovely. When a person dies, he doesn’t go to heaven. Heaven is in the golden age and hell is in the iron age. So, surely, rebirth would also take place in hell. This is not the golden age. That is a wonder of the world. They say this, they understand it, and yet when someone dies, their relatives don’t understand anything. Only the Father, who has the knowledge of the cycle of 84 births, can give it to you. You used to consider yourselves to be bodies, but that was wrong. The Father now says: May you be soul conscious! Krishna cannot say: May you be soul conscious! He has a body of his own. Shiv Baba doesn’t have a body of His own. This is His chariot in which He is present. This is that One’s chariot and also this one’s chariot. There is this one’s own soul too. The Father has taken this body on loan. The Father says: I take the support of this one. I do not have a body of My own. So, how would I teach you? The Father sits here every day and pulls you to make you consider yourself to be a soul and look at the Father. Even this body should be forgotten. I look at You and You look at me. The more you look at the Father, the purer you will continue to become. There is no other way to become pure. If there is, then show that way through which a soul can become pure. A soul will not become pure with the water of the Ganges. First of all, you have to give anyone the Father’s introduction. No other Father is like that One. Feel their pulse and see if they have understood sufficiently that they become amazed. They should understand that that One truly is the Supreme Soul. The Father is now giving you children His own introduction as to who He is. Children also know that history repeats. Only those who belong to this clan will come. All the others will go to their own religions. Those who have been converted into other religions will emerge and come back to their own section. This is why the incorporeal tree has been shown. Only you children understand these things. Others hardly understand. Out of seven to eight, there would be one or two who emerge who think that this knowledge is very good. Those who belong here will have fewer storms. They would want to come here again to listen to this knowledge. Some come here and then they become coloured by other company and they don’t come back a second time. Wherever they see a group going to a party, they would join it. They find this to be a lot of effort. So much effort has to be made. You repeatedly say that you forget. I am a soul and not this body: you repeatedly forget this. The Father knows that you children have become ugly by sitting on the pyre of lust. You have been buried in the graveyard. This is how you have become ugly. The Father says to you: All of My children have been burnt. This is an unlimited matter. There are so many millions of souls who are going to reside in My home, that is, they are going to reside in Brahmlok. The Father is in the unlimited. You will also go into the unlimited. You know that Baba will carry out establishment and then depart and you will then rule the kingdom. All the other souls will go back to the land of peace. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Even if Ravan becomes jealous of you actors, if he creates obstacles or brings storms, do not see those, but remain engrossed in your efforts because each actor has his own individualpartin this drama. This eternal drama is predestined.
  2. Do not become dishonest by following the directions of Ravan while looking after the valuables entrusted to you. Remove your attachment from everyone and live as complete trustees.
Blessing: May you experience goodness in anything bad and by your intellect having faith, become a carefree emperor.
Always remember the slogan: Whatever happened, it was good, it is good and it will be the best. Do not look at anything bad with the vision of it being bad, but experience goodness even in something bad; learn a lesson from that which is bad. When any situation arises, do not think, “What happened?”, but instantly think, “It will be good.” Whatever has passed, it will be good. Where there is goodness, you will always be a carefree emperor. For your intellect to have faith means to be a carefree emperor.
Slogan: The record of those who have regard for the self and who give regard to others is always fine.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 MAY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 May 2019

To Read Murli 8 May 2019 :- Click Here
09-05-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – शिवबाबा वन्डरफुल बाप, टीचर और सतगुरू है, उसे अपना कोई बाप नहीं, वह कभी किसी से कुछ सीखता नहीं, उन्हें गुरू की दरकार नहीं, ऐसा वन्डर खाकर तुम्हें याद करना चाहिए”
प्रश्नः- याद में कौन-सी नवीनता हो तो आत्मा सहज ही पावन बन सकती है?
उत्तर:- याद में जब बैठते हो तो बाप की करेन्ट खींचते रहो। बाप तुम्हें देखे और तुम बाप को देखो, ऐसी याद ही आत्मा को पावन बना सकती है। यह बहुत सहज याद है, लेकिन बच्चे घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं कि हम आत्मा हैं, शरीर नहीं। देही-अभिमानी बच्चे ही याद में ठहर सकते हैं।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों को यह तो निश्चय है कि यह हमारा बेहद का बाप है, उनका कोई बाप नहीं। दुनिया में ऐसा कोई मनुष्य नहीं होगा जिसका बाप न हो। एक-एक बात बड़ी अच्छी समझने की है और फिर नॉलेज भी वह सुनाते हैं, जो कब पढ़ते नहीं हैं। नहीं तो मनुष्य मात्र कुछ न कुछ पढ़ते जरूर हैं। कृष्ण भी पढ़ा है। बाप कहते हैं मैं क्या पढूँ। मैं तो पढ़ाने आया हूँ। मैं पढ़ा हुआ नहीं हूँ। मैंने कोई से शिक्षा नहीं ली है। कोई गुरू नहीं किया है। ड्रामा प्लैन अनुसार बाप की जरूर ऊंच ते ऊंच महिमा होगी। गाया भी जाता है ऊंचे ते ऊंचा भगवन्। उनसे ऊंचा फिर क्या होगा! न बाप, न टीचर, न गुरू। इस बेहद के बाप का न कोई बाप है, न टीचर है, न गुरू है। यह स्वयं ही बाप, टीचर, गुरू है। यह तो अच्छी तरह समझ सकते हो। ऐसा कोई भी व्यक्ति हो नहीं सकता। यही वन्डर खाकर ऐसे बाप, टीचर, सतगुरू को याद करना चाहिए। मनुष्य कहते भी हैं ओ गॉड फादर.. वह नॉलेजफुल टीचर भी है, सुप्रीम गुरू भी है। एक ही है, ऐसा कोई दूसरा मनुष्य मात्र नहीं होगा। उनको पढ़ाना भी मनुष्य तन में है। पढ़ाने के लिए मुख तो जरूर चाहिए। यह भी बच्चों को घड़ी-घड़ी स्मृति रहे तो भी बेड़ा पार हो जाए। बाप को याद करने से ही विकर्म विनाश होंगे। सुप्रीम टीचर समझने से सारा ज्ञान बुद्धि में आ जायेगा। वह सतगुरू भी है। हमको योग सिखला रहे हैं। एक के ही साथ योग लगाना है। सभी आत्माओं का एक ही फादर है। सब आत्माओं को कहते हैं मामेकम् याद करो। आत्मा ही सब कुछ करती है। इस शरीर रूपी मोटर को चलाने वाली आत्मा है। उनको रथ कहो वा कुछ भी कहो। मुख्य चलाने वाली आत्मा ही है। आत्मा का बाप एक ही है। मुख से कहते भी हो, हम सब भाई-भाई हैं। एक बाप के बच्चे हम सब भाई-भाई हैं। फिर जब बाप आते हैं, प्रजापिता ब्रह्मा के तन में तो भाई-बहन होना पड़ता है। प्रजापिता ब्रह्मा मुख वंशावली तो भाई-बहन होंगे ना। भाई की बहन से कभी भी शादी नहीं होती है। तो यह सब प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारियां हो गये। तो भाई-बहन समझने से जैसे बाप के लवली चिल्ड्रेन ईश्वरीय सम्प्रदाय हो गये। तुम कहेंगे हम हैं डायरेक्ट ईश्वरीय सम्प्रदाय। ईश्वर बाबा हमको सब कुछ सिखला रहे हैं। वह कोई से सीखा हुआ नहीं है। वह तो है ही सदैव सम्पूर्ण। उनकी कलायें कभी कम नहीं होती और सबकी कलायें कम होती हैं। हम तो शिवबाबा की बहुत महिमा करते हैं। शिवबाबा कहना बड़ा इज़ी है और बाप ही पतित-पावन है। सिर्फ ईश्वर कहने से इतना जंचता नहीं है। अभी तुम बच्चों को दिल में जंचता है। बाप कैसे आकर पतितों को पावन बनाते हैं। लौकिक बाप भी है, पारलौकिक बाप भी है। पारलौकिक बाप को सभी याद करते हैं क्योंकि पतित हैं तब याद करते हैं। पावन बन गये फिर तो दरकार नहीं पतित-पावन को बुलाने की। ड्रामा देखो कैसा है। पतित-पावन बाप को याद करते हैं। चाहते हैं हम पावन दुनिया के मालिक बनें।

शास्त्रों में दिखाया है देवताओं और असुरों की लड़ाई लगी। परन्तु ऐसा तो है नहीं। अभी तुम समझते हो हम न असुर हैं, न देवता हैं। अभी हम हैं बीच के। सभी तुमको कूटते रहते हैं। यह खेल बड़ा मजे का है। नाटक में मजा ही देखने जाते हैं ना। वह सब हैं हद के ड्रामा, यह है बेहद का ड्रामा। इनको और कोई नहीं जानते। देवतायें तो जान भी नहीं सकते। अभी तुम कलियुग से निकल आये हो। जो खुद जानते हैं वह औरों को भी समझा सकते हैं। एक बार ड्रामा देखा तो फिर सारा ड्रामा बुद्धि में आ जायेगा। बाबा ने समझाया है यह मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ है, इनका बीज ऊपर में है। विराट रूप कहते हैं ना। बाप बैठ तुम बच्चों को समझाते हैं। मनुष्यों को यह पता नहीं है। शिवबाबा कोई से भाषा सीखा होगा? जबकि उनका कोई टीचर ही नहीं तो भाषा फिर क्या सीखा होगा। तो जरूर जिस रथ में आते हैं उनकी भाषा ही काम में लायेगा। उनकी अपनी भाषा तो कोई है नहीं। वह कुछ पढ़ते सीखते ही नहीं। उनका कोई टीचर होता नहीं। कृष्ण तो सीखता है। उनके माँ, बाप, टीचर हैं, उनको गुरू की दरकार ही नहीं क्योंकि उनको तो सद्गति मिली हुई है। यह भी तुम जानते हो। तुम ब्राह्मण हो सबसे ऊंच। यह तुम स्मृति में रखो। हमको पढ़ाने वाला है बाप। हम अभी ब्राह्मण हैं। ब्राह्मण, देवता…. कितना क्लीयर है। बाप को तो पहले से ही कह देते हैं, वह सब कुछ जानते हैं। क्या जानते हैं, यह किसको पता नहीं। वह नॉलेजफुल है। सारे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की उनको नॉलेज है। बीज को सारे झाड़ की नॉलेज होती है। वह तो है जड़ बीज। तुम हो चैतन्य। तुम अपने झाड़ की नॉलेज समझाते हो। बाप कहते हैं मैं इस वैराइटी मनुष्य सृष्टि का बीज हूँ। हैं तो सब मनुष्य, परन्तु वैराइटी हैं। एक भी आत्मा के शरीर के फीचर्स दूसरे जैसे नहीं हो सकते। दो एक्टर्स एक जैसे नहीं हो सकते। यह है बेहद का ड्रामा। हम मनुष्यों को एक्टर्स नहीं कहते हैं, आत्मा को कहते हैं। वो लोग मनुष्यों को ही समझते हैं। तुम्हारी बुद्धि में है कि हम आत्मायें एक्टर्स हैं। वह मनुष्य डांस करते हैं। जैसे मनुष्य बन्दर को आकर डांस कराते हैं। यह भी आत्मा है जो शरीर को डांस कराती, पार्ट बजवाती है। यह तो बहुत सहज समझने की बातें हैं। बेहद का बाप आते भी जरूर हैं। ऐसे नहीं कि नहीं आते। शिव जयन्ती भी होती है। बाप आते ही हैं जब दुनिया चेन्ज होनी होती है। भक्ति मार्ग में कृष्ण को याद करते रहते हैं, परन्तु कृष्ण आये कैसे। कलियुग में या संगम पर तो कृष्ण का रूप इन आंखों से देखा नहीं जा सकता। फिर उनको भगवान् कैसे कहें? वह तो सतयुग का पहला नम्बर प्रिन्स है। उनका बाप, टीचर भी है, गुरू की उनको दरकार नहीं क्योंकि सद्गति में है। स्वर्ग को सद्गति कहा जाता है। हिसाब भी क्लीयर है। बच्चे समझते हैं मनुष्य 84 जन्म लेते हैं। कौन-कौन कितने जन्म लेते हैं वह तो हिसाब करते हो। डीटी घराना जरूर पहले-पहले आता है। पहला जन्म उनका ही होता है। एक का हुआ तो उनके पीछे सभी आ जाते हैं। यह बातें तुम जानते हो। तुम्हारे में भी कोई अच्छी रीति समझते हैं। जैसे उस पढ़ाई में होता है, यह है बहुत सहज। सिर्फ एक गुप्त डिफीकल्टी है – तुम बाप को याद करते हो उसमें माया विघ्न डालती है क्योंकि माया रावण को हषद (ईर्ष्या) होता है। तुम राम को याद करते हो तो रावण को हषद होता है कि हमारा मुरीद राम को क्यों याद करता है! यह भी ड्रामा में पहले से ही नूँध है। नई बात नहीं। कल्प पहले जो पार्ट बजाया है वही बजायेंगे। अभी तुम पुरूषार्थ कर रहे हो। कल्प पहले जो पुरूषार्थ किया है, वह अभी भी कर रहे हो। यह चक्र फिरता रहता है। कभी बन्द नहीं होता है। टाइम की टिक-टिक होती रहती है। बाप समझाते हैं, यह 5 हजार वर्ष का ड्रामा है। शास्त्रों में तो कैसी-कैसी बातें लिख दी हैं। बाप ऐसे कभी नहीं कहेंगे कि भक्ति छोड़ो क्योंकि अगर यहाँ भी चल नहीं सके और वह भी छूट जाए तो न इधर का, न उधर का ही रहे। कोई काम का ही नहीं रहा इसलिए तुम देखते हो कई मनुष्य ऐसे भी हैं जो भक्ति आदि कुछ नहीं करते हैं। बस, ऐसे ही चलता रहता है। कई तो कह देते हैं, भगवान् ही अनेक रूप धरते हैं। अरे, यह तो बेहद का ड्रामा अनादि बना-बनाया है, जो रिपीट होता रहता है इसलिए इसको अनादि अविनाशी वर्ल्ड ड्रामा कहा जाता है। इसको भी तुम बच्चे ही समझ रहे हो। इसमें भी तुम कुमारियों के लिए तो बहुत सहज है। माताओं को तो जो सीढ़ी चढ़ी है वह उतरना पड़े। कुमारी को तो कोई और बन्धन नहीं। चिन्तन ही नहीं, बाप का बन जाना है। लौकिक सम्बन्ध को भूल पारलौकिक सम्बन्ध जोड़ना है। कलियुग में तो है ही दुर्गति। नीचे उतरना ही है, ड्रामा अनुसार।

भारतवासी कहते हैं यह सब कुछ ईश्वर का है। वह मालिक है। तुम कौन हो! हम आत्मा हैं। बाकी यह सब कुछ ईश्वर का है। यह देह आदि जो कुछ है, परमात्मा ने दिया है। मुख से कहते ठीक हैं। कह देते हैं – यह सब कुछ ईश्वर ने दिया है। अच्छा, फिर उनकी दी हुई चीज़ में ख्यानत थोड़ेही डालनी चाहिए। परन्तु उस पर भी चलते नहीं। रावण मत पर चलते हैं। बाप समझाते हैं तुम तो ट्रस्टी हो। परन्तु रावण सम्प्रदाय होने कारण तुम ट्रस्टीपने में अपने को धोखा देते हो। मुख से कहते एक हो, करते दूसरा हो। बाप ने चीज़ दी, फिर ले ली तो उसमें तुमको दु:ख क्यों होता है? ममत्व मिटाने के लिए ही यह बातें बाप अपने बच्चों को समझाते हैं। अब बाप आये हैं। तुमने ही पुकारा है – बाबा हमको साथ ले चलो। हम रावण राज्य में बहुत दु:खी हैं, आकर हमको पावन बनाओ क्योंकि समझते हैं पावन बनने बिगर हम जा नहीं सकते। हमको ले चलो! कहाँ? घर ले चलो। सब कहते हैं हम घर जायें। कृष्ण के भक्त चाहते हैं हम कृष्णपुरी बैकुण्ठ में जायें। सतयुग ही याद रहता है। प्यारी चीज़ है। मनुष्य मरता है तो स्वर्ग जाता नहीं है, स्वर्ग तो सतयुग में ही होता है, कलियुग में होता है नर्क। तो जरूर पुनर्जन्म नर्क में ही होगा। यह कोई सतयुग थोड़ेही है। वह तो वन्डर ऑफ वर्ल्ड है। कहते भी हैं, समझते भी हैं, फिर भी कोई मरता है तो उनके सम्बन्धी कुछ भी समझते नहीं। बाप के पास जो 84 के चक्र की नॉलेज है वह बाप ही दे सकते हैं। तुम तो अपने को देह समझते थे, वह रांग था। अब बाप कहते हैं देही-अभिमानी भव। कृष्ण तो कह न सके देही-अभिमानी भव। उनको तो अपनी देह है ना। शिवबाबा को अपनी देह नहीं है। यह तो उनका रथ है, जिसमें वह विराजमान है। उनका यह रथ है तो इनका भी रथ है। इनकी अपनी आत्मा भी है। बाप का भी लोन लिया हुआ है। बाप कहते हैं मैं इनका आधार लेता हूँ। अपना तो है नहीं। तो पढ़ायेंगे कैसे! बाप रोज़ बैठ बच्चों को कशिश करते हैं कि अपने को आत्मा समझ और बाप को देखो। यह शरीर भी भूल जाए। हम तुमको देखें, तुम हमको देखो। तुम जितना बाप को देखेंगे, पवित्र होते जायेंगे। और कोई उपाय पावन बनने का है नहीं। अगर हो तो बताओ, जिससे आत्मा पवित्र होती हो? गंगा के पानी से तो नहीं होगी। पहले तो कोई को भी बाप का परिचय देना है। ऐसा बाप तो और कोई होता नहीं। नब्ज देखो ऐसा समझा है, जो चक्रित हो जाए? समझे बरोबर इनको परमात्मा कहा जाता है। अभी तुम बच्चों को बाप अपना परिचय दे रहे हैं। मैं कौन हूँ, यह भी बच्चों को मालूम है। हिस्ट्री रिपीट होती है। जो इस कुल के होंगे वही आयेंगे। बाकी तो सब अपने-अपने धर्म में चले जायेंगे। जो और धर्मों में कनवर्ट हो गये हैं वह फिर निकल अपने-अपने सेक्शन में चले जायेंगे इसलिए निराकारी झाड़ भी दिखाया है। यह बातें तुम बच्चे ही समझते हो बाकी तो कोई मुश्किल ही समझते। 7-8 से कोई 1-2 निकलेंगे जो समझेंगे यह नॉलेज तो बहुत अच्छी है। यहाँ का जो होगा उनको त़ूफान कम आयेंगे। दिल होगी फिर जायें, जाकर सुनें। कई फिर संग के रंग में भी आ जाते हैं तो फिर आते नहीं। जहाँ पार्टी को जाता हुआ देखेंगे तो उसमें लटक पड़ेंगे। मेहनत लगती है बहुत। कितनी मेहनत करनी पड़ती है। घड़ी-घड़ी कहते हैं हम भूल जाते हैं। मैं आत्मा हूँ, शरीर नहीं। यह घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। बाप भी जानते हैं बच्चे काम चिता पर बैठकर काले हो गये हैं। कब्रदाखिल हो पड़े हैं, इसलिए सांवरे बन गये हैं। उनको ही फिर बाप कहते हैं हमारे बच्चे सब जल मरे हैं। यह बेहद की बात है। कितनी करोड़ों आत्मायें हमारे घर में रहने वाली हैं अर्थात् ब्रह्मलोक में रहने वाली हैं। बाप तो बेहद में खड़े हैं ना। तुम भी बेहद में खड़े हो जायेंगे। जानते हो बाबा स्थापना करके चला जायेगा फिर तुम राज्य करेंगे। बाकी सब आत्मायें शान्तिधाम में चली जायेंगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी भी एक्टर से रावण हषद (ईर्ष्या) करे, विघ्न डाले, त़ूफान में लाये तो उसे न देख अपने पुरूषार्थ में तत्पर रहना है क्योंकि हरेक एक्टर का पार्ट, इस ड्रामा में अपना-अपना है। यह अनादि ड्रामा बना हुआ है।

2) रावण मत पर ईश्वर की अमानत में ख्यानत नहीं डालनी है। सबसे ममत्व निकाल पूरा ट्रस्टी होकर रहना है।

वरदान:- बुराई में भी अच्छाई का अनुभव करने वाले निश्चयबुद्धि बेफिक्र बादशाह भव
स्लोगन:- सदा यह स्लोगन याद रहे कि जो हुआ अच्छा हुआ, अच्छा है और अच्छा ही होना है। बुराई को बुराई के रूप में न देखें। लेकिन बुराई में भी अच्छाई का अनुभव करें, बुराई से भी अपना पाठ पढ़ लें। कोई भी बात आये तो “क्या होगा” यह संकल्प न आये लेकिन फौरन आये कि “अच्छा होगा”। बीत गया अच्छा हुआ। जहाँ अच्छा है वहाँ सदा बेफिक्र बादशाह हैं। निश्चयबुद्धि का अर्थ ही है बेफिक्र बादशाह।

स्लोगन:- जो स्वयं को वा दूसरों को रिगार्ड देते हैं उनका रिकार्ड सदा ठीक रहता है।

Font Resize