9 january ki murli

TODAY MURLI 9 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

09/01/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, to remember the unlimited Father is something incognito. Remembrance begets remembrance. How can the Father remember those who don’t stay in remembrance?
Question: What study that is never taught at any other time throughout the whole cycle do you children study at the confluence age?
Answer: The study to die alive from your body. To become a corpse is only taught at this time, because it is at this time that you have to become karmateet. While you are in a body, you have to perform actions. Your mind can only be peaceful when you are not in a body. This is why, “Those who conquer the mind conquer the world”, shouldn’t be said. It should be, “Those who conquer Maya conquer the world.”

Om shanti. The Father sits here and explains to you children because you understand that only those who are senseless are taught. Now, when the unlimited Father, God, the Highest on High, comes, whom would He teach? He would definitely teach those who are the most senseless. This is why they talk about, “Those who have non-loving intellects at the time of destruction.” How did intellects become non-loving? They have written about 8.4 million species. They have also said that the Father takes 8.4 million births. They say that the Supreme Soul is in the cats and dogs and in all living things. You children have been told that this point should be explained second. The Father has explained that, when new ones come, first of all give them the introduction of the limited and the unlimited fathers. That One is the unlimited senior Baba and this one is a limited junior Baba. “The unlimited Father” means the Father of unlimited souls. A limited father is a father of living beings. That One is the Father of all souls. Not everyone can imbibe this knowledge to the same extent. Some imbibe only 1% and some imbibe 95%. This is something to understand. There will be the sun dynasty; there are the kings, queens and subjects. This enters your intellects. There are all types of human beings among the subjects. Subjects means subjects! The Father explains: This is a study. Each of you studies according to your own intellect. Each of you has received your own part. To whatever extent you imbibed this study in the previous cycle, you will do the same now. The study can never be hidden. You receive your status according to how much you study. The Father has explained: As you make progress, there will be examinations. You cannot be transferred without your taking an examination. Everything will be revealed at the end. However, even now, you can understand what status you are worthy of. Although you all raise your hands, because you are embarrassed when you’re among everyone, you do understand in your hearts that you know how you couldn’t possibly become that. Nevertheless, you raise your hands. To raise your hand even though… this means ignorance. There is so much ignorance! The Father straightaway understands that those (worldly) students have more sense. They understand that if they are not worthy of claiming a scholarship, they won’t pass. Those worldly students are better than you because they at least understand how many marks they will claim in the subject their teacher is teaching them. They would not say that they will pass with honours. This shows that those here don’t have even that much sense; they have a lot of body consciousness. Since you have come here to become Lakshmi and Narayan, your activity has to be very good. The Father says: Some have non-loving intellects at the time of destruction. What will their condition be if they don’t have accurate love for the Father? They won’t be able to claim a high status. The Father sits here and explains to you children the meaning of, “Those who have non-loving intellects at the time of destruction.” If you children can’t understand it clearly yourselves, what would others understand? The children who believe that they are Shiv Baba’s children don’t understand the full meaning of that. To remember the Father is something incognito. The study is not incognito. Everyone is numberwise in the study: not everyone will study to the same extent. The Father realises that they are still babies. They don’t remember the unlimited Father for three to four months. How can it be understood whether someone is remembering Baba or not? It would only be when Baba receives a letter from them and they write service news of the spiritual service they are doing. You need to give some proof. Those who neither stay in remembrance nor give any proof of service are body conscious. Some write their news: Baba, so-and-so came and I explained this to him. So, the Father understands that the child is still alive and is giving good service news. Some don’t even write a letter for three to four months. When Baba doesn’t receive any news, he understands that the child has died or is ill. Those who are ill are unable to write. Some even write that they didn’t write earlier because their health wasn’t good. Some do not give any news at all; they are not ill, they are body conscious. Then, whom would the Father remember? Remembrance begets remembrance. However, there is body consciousness. The Father comes and explains: You have said that I am omnipresent and have put Me into an even greater number of species than 8.4 million. Human beings are said to be those with stone intellects. They say of God: He is present in all the pebbles and stones. Therefore, that is an unlimited insult, is it not? So, the Father says: They defame Me so much! You now understand everything, numberwise. On the path of devotion, they sing: When You come, I will surrender myself to You. I will make you my Heir. You make Me your Heir by saying that I am in the pebbles and stones! You defame Me so much! This is why the Father says: When there is extreme irreligiousness, I come. You children now know the Father and so you praise Him so much. Let alone praise Him, some don’t even write two words of remembrance to Him. They become body conscious. You children understand that you have found the Father. Our Father is teaching us. These are the versions of God. I teach you Raj Yoga. I teach you Raj Yoga and show you how you can claim the kingdom of the world. If you had the intoxication that the unlimited Father is teaching you how to claim the sovereignty of the world, you would have infinite happiness. Although they study the Gita, they study it like an ordinary book. God Krishna speaks: I teach you Raj Yoga. That is all! Their intellects don’t have this yoga or this happiness. Those who study or recite the Gita don’t have this much happiness. When they finish reading the Gita, they get busy in their business. You now have it in your intellects that the unlimited Father is teaching you. It does not enter anyone else’s intellect that God is teaching them. So, when someone comes, first of all, explain to him the theory of the two fathers. Tell him: Bharat was heaven and it is now hell. No one can say that they are in the iron age as well as the golden age. When someone experiences sorrow, he is in hell and when someone experiences happiness, he is in heaven. Many say that they have a lot of happiness and that unhappy people are in hell. They have their palaces and buildings, etc. They see a lot of external happiness. You now understand that that golden-aged happiness cannot be experienced here. It isn’t that they are both the same thing, so that the golden age can be called the iron age and the iron age can be called the golden age. Those who believe that are called ignorant. Therefore, first of all, tell them the theory of the Father. The Father gives His own introduction. No one else knows Him. They say that God is omnipresent. You now show in the pictures that the form of a soul and that of the Supreme Soul is the same. He too is a soul, but He is called the Supreme Soul. The Father sits here and explains how He comes. All souls reside there in the supreme abode. People outside cannot understand these things. The language is also very easy. In the Gita, it mentions Krishna’s name, but Krishna doesn’t speak the Gita. He cannot tell everyone: Constantly remember Me alone! Sins cannot be cut away by remembering bodily beings. It says: God Krishna speaks: Renounce all bodily relations and constantly remember Me alone! However, Krishna himself has bodily relations and is just a small child. This is such a huge mistake! There is so much difference because of just one mistake! God cannot be omnipresent. Does the One you call “Bestower of Salvation for All” attain degradation too? Can God ever become degraded? All of these things have to be churned. This is not a matter of wasting time! People say that they don’t have time. When you tell them to come and take the course, they say that they don’t have time. They would come for two days or they would come for four days. If they don’t study, how can they become Lakshmi and Narayan? There is so much force of Maya. The Father explains: Every second and every minute that pass repeat identically. They will continue to repeat countless times. You are now listening to the Father. Baba doesn’t enter the cycle of birth and death. You can compare the ones who enter the full cycle of birth and rebirth with the One who doesn’t. Only the one Father doesn’t take birth or die. Everyone else is in this cycle. This is why you show the picture of Brahma and Vishnu both taking birth and rebirth. They continue to act out their parts: Brahma becomes Vishnu and Vishnu becomes Brahma: it cannot end. Everyone will come and see these pictures and understand. This is something to be understood easily. Let it enter your intellects that you are Brahmins, that you will then become deities, warriors, merchants and shudras and that, when the Father comes, you will then become Brahmins. Remember this and you will become spinners of the discus of self-realisation. There are many who are unable to stay in remembrance. Only you Brahmins become spinners of the discus of self-realisation. Deities don’t become this. You become deities by receiving the knowledge now of how you go around the cycle. In fact, no human being is worthy of being called a spinner of the discus of self-realisation. The human world, the land of death, is completely different, just as the customs and systems of the people of Bharat are different. Everyone’s customs and systems are different. The customs and systems of the deities are different. The customs and systems of the people of the land of death are different. There is the difference of day and night and this is why everyone says that they are impure. They call out: O God, purify all of us residents of the impure world! It is in your intellects that the pure world existed 5000 years ago and that it was called the golden age. The silver age is not called that. The Father has explained that first there is firstclass and then there is secondclass. Therefore, you have to explain each aspect so well that anyone who comes is amazed by what they hear. Some are really amazed a lot, but, when they hear that they definitely have to remain pure, they don’t have the time to make effort. It is the vice of lust that makes human beings impure. By conquering it you will become conquerors of the world. The Father has also told you: Conquer the vice of lust and become conquerors of the world. Human beings say: Conquer the mind and become conquerors of the world. Control your mind. Only when you don’t have a body can your mind be peaceful. Otherwise, the mind can never be peaceful. You receive a body in order for you to perform actions. So, how could you stay here in your karmateet stage? The karmateet stage is said to be that of a corpse: to have died alive and be detached from your body. You are taught the study to become detached from your body. A soul is separate from a body. A soul is a resident of the supreme abode. When a soul enters a body, it is called a human being. You receive a body to perform actions. When a soul sheds its body, it has to take another body in order to perform actions. Only when you don’t have to perform actions will you remain peaceful. There are no actions in the incorporeal world. The world cycle turns here. You have to understand the Father and the world cycle. This is called knowledge. For as long as your eyes are impure and criminal, you are unable to see anything pure. This is why each of you needs a third eye of knowledge. Only when you attain your karmateet stage, that is, when you become deities, will you see deities with your eyes. However, you cannot see Krishna with your eyes while in those bodies. You don’t attain anything just by having a vision. You only experience temporary happiness and your desire (of seeing Krishna) is fulfilled through that. Visions are fixed in the drama. There is no attainment through them. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence of dharna:

1. I am a soul, separate from my body. Make your stage karmateet by practising being a corpse who has died alive while living in your body.

2. Give the proof of service. Renounce body consciousness and give your news honestly. Make effort to pass with honours

Blessing: May you become a double light angel who has all accounts and all relationships with the one Father.
In order to become double light angels, stay beyond the consciousness of bodies because body consciousness is mud, and if you have that burden there would be heaviness. Angels are those who don’t even have a relationship with their own bodies. You have given the Father the body that the Father had given you. Once you give away something of yours to someone else, your relationship with it finishes. All your accounts and all your give-and-take are with the Father, and all the accounts and relationships of the past have finished. Only those who are such complete beggars become double light angels.
Slogan: Use your specialities and you will experience progress at every step.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

09-01-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बेहद के बाप को याद करना – यह है गुप्त बात, याद से याद मिलती है, जो याद नहीं करते उन्हें बाप भी कैसे याद करें ”
प्रश्नः- संगम पर तुम बच्चे कौन सी पढ़ाई पढ़ते हो जो सारा कल्प नहीं पढ़ाई जाती?
उत्तर:- जीते जी शरीर से न्यारा अर्थात् मुर्दा होने की पढ़ाई अभी पढ़ते हो क्योंकि तुम्हें कर्मातीत बनना है। बाकी जब तक शरीर में हैं तब तक कर्म तो करना ही है। मन भी अमन तब हो जब शरीर न हो इसलिए मन जीते जगतजीत नहीं, लेकिन माया जीते जगतजीत।

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं क्योंकि यह तो बच्चे समझते हैं बेसमझ को ही पढ़ाया जाता है। अब बेहद का बाप ऊंच ते ऊंच भगवान आते हैं तो किसको पढ़ाते होंगे? जरूर जो ऊंच ते ऊंच बिल्कुल बेसमझ होंगे इसलिए कहा ही जाता है विनाश काले विपरीत बुद्धि। विपरीत बुद्धि कैसे हो गये हैं? 84 लाख योनियां लिखा हुआ है ना! तो बाप को भी 84 लाख जन्मों में ले आये हैं। कह देते हैं परमात्मा कुत्ते, बिल्ली, जीव-जन्तु सबमें है। बच्चों को समझाया जाता है, यह तो सेकेण्ड नम्बर प्वाइंट देनी होती है। बाप ने समझाया है जब कोई नया आता है तो पहले-पहले उनको हद के और बेहद के बाप का परिचय देना चाहिए। वह बेहद का बड़ा बाबा और वह हद का छोटा बाबा। बेहद का बाप माना ही बेहद आत्माओं का बाप। वह हद का बाप जीव आत्मा का बाप हो गया। वह है सब आत्माओं का बाप। यह नॉलेज भी सब एकरस नहीं धारण कर सकते हैं। कोई 1 परसेन्ट धारण करते हैं तो कोई 95 परसेन्ट धारण करते हैं। यह तो समझ की बात है। सूर्यवंशी घराना होगा ना! राजा-रानी तथा प्रजा। यह बुद्धि में आता है ना। प्रजा में सब प्रकार के मनुष्य होते हैं। प्रजा माना प्रजा। बाप समझाते हैं यह पढ़ाई है। अपनी बुद्धि अनुसार हरेक पढ़ते हैं। हरेक को अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। जिसने कल्प पहले जितनी पढ़ाई धारण की है उतनी अब भी धारण करते हैं। पढ़ाई कब छिपी नहीं रह सकती। पढ़ाई अनुसार ही पद मिलता है। बाप ने समझाया है – आगे चल इम्तहान तो होता ही है। बिगर इम्तहान ट्रांसफर तो हो न सके। पिछाड़ी में सब मालूम पड़ेगा। बल्कि अभी भी समझ सकते हैं कि किस पद के हम लायक हैं। भल लज्जा के मारे सबके साथ-साथ हाथ उठा देते हैं। दिल में समझते भी हैं हम यह कैसे बन सकेंगे! तो भी हाथ उठा देते हैं। समझते हुए भी फिर हाथ उठा लेना यह भी अज्ञान कहेंगे। कितना अज्ञान है, बाप तो झट समझ जाते हैं। इससे तो उन स्टूडेन्ट्स में अक्ल होता है। वह समझते हैं हम स्कालरशिप लेने के लायक नहीं हैं, पास नहीं होऊंगा। इससे तो वह अज्ञानी अच्छे जो समझते हैं – टीचर जो पढ़ाते हैं उसमें हम कितने मार्क्स लेंगे! ऐसे थोड़ेही कहेंगे हम पास विद् ऑनर होंगे। तो सिद्ध होता है यहाँ इतनी भी बुद्धि नहीं है। देह-अभिमान बहुत है। जब तुम आये हो यह (लक्ष्मी-नारायण) बनने तो चलन बड़ी अच्छी चाहिए। बाप कहते हैं कोई तो विनाश काले विपरीत बुद्धि हैं क्योंकि कायदेसिर बाप से प्रीत नहीं है, तो क्या हाल होगा। ऊंच पद पा नहीं सकेंगे।

बाप बैठ तुम बच्चों को समझाते हैं – विनाश काले विपरीत बुद्धि का अर्थ क्या है – बच्चे ही पूरा नहीं समझ सकते तो फिर और क्या समझेंगे! जो बच्चे समझते हैं हम शिवबाबा के बच्चे हैं वही पूरा अर्थ को नहीं समझते। बाप को याद करना – यह तो है गुप्त बात। पढ़ाई तो गुप्त नहीं है ना। पढ़ाई में नम्बरवार हैं। सब एक जैसा थोड़ेही पढ़ेंगे। बाप तो समझते हैं यह अभी बेबीज़ हैं। ऐसे बेहद के बाप को तीन-तीन, चार-चार मास याद भी नहीं करते हैं। मालूम कैसे पड़े कि याद करते हैं? जबकि उनकी चिट्ठी आये। फिर उस चिट्ठी में सर्विस समाचार भी हो कि यह-यह रूहानी सर्विस करता हूँ। सबूत चाहिए ना। ऐसे तो देह-अभिमानी होते हैं जो न तो कभी याद करते हैं, न सर्विस का सबूत दिखाते हैं। कोई तो समाचार लिखते हैं बाबा फलाने-फलाने आये उनको यह समझाया, तो बाप भी समझते हैं बच्चा जिन्दा है। सर्विस समाचार ठीक देते हैं। कोई तो 3-4 मास पत्र नहीं लिखते। कोई समाचार नहीं तो समझेंगे मर गया या बीमार है! बीमार मनुष्य लिख नहीं सकते हैं। यह भी कोई लिखते हैं हमारी तबियत ठीक नहीं थी इसलिए पत्र नहीं लिखा। कोई तो समाचार ही नहीं देते, न बीमार हैं। देह-अभिमान है। फिर बाप भी याद किसको करे। याद से याद मिलती है, परन्तु देह-अभिमान है। बाप आकर समझाते हैं मुझे सर्वव्यापी कह 84 लाख से भी जास्ती योनियों में ले जाते हैं। मनुष्यों को कहा जाता है पत्थरबुद्धि हैं। भगवान के लिए तो फिर कह देते पत्थर भित्तर के अन्दर विराजमान है। तो यह बेहद की गालियां हुई ना! इसलिए बाप कहते हैं मेरी कितनी ग्लानि करते हैं। अभी तुम तो नम्बरवार समझ गये हो। भक्तिमार्ग में गाते भी हैं – आप आयेंगे तो हम वारी जायेंगे। आपको वारिस बनायेंगे। यह वारिस बनाते हैं जो कहते हैं पत्थर-ठिक्कर में हो! कितनी ग्लानि करते हैं, तब बाप कहते हैं यदा यदाहि…… अभी तुम बच्चे बाप को जानते हो तो बाप की कितनी महिमा करते हो। कोई महिमा तो क्या, कभी याद कर दो अक्षर लिखते भी नहीं। देह-अभिमानी बन पड़ते हैं। तुम बच्चे समझते हो हमको बाप मिला है, हमारा बाप हमको पढ़ाते हैं। भगवानुवाच है ना! मैं तुमको राजयोग सिखाता हूँ। विश्व की राजाई कैसे प्राप्त हो उसके लिए राजयोग सिखाता हूँ। हम विश्व की बादशाही लेने लिए बेहद के बाप से पढ़ते हैं – यह नशा हो तो अपार खुशी आ जाए। भल गीता भी पढ़ते हैं परन्तु जैसे आर्डिनरी किताब पढ़ते हैं। कृष्ण भगवानुवाच – राजयोग सिखाता हूँ, बस। इतना बुद्धि का योग वा खुशी नहीं रहती। गीता पढ़ने वा सुनाने वालों में इतनी खुशी नहीं रहती। गीता पढ़कर पूरी की और गया धन्धे में। तुमको तो अभी बुद्धि में है – बेहद का बाप हमको पढ़ाते हैं। और कोई की बुद्धि में यह नहीं आयेगा कि हमको भगवान पढ़ाते हैं। तो पहले-पहले कोई भी आवे तो उनको दो बाप की थ्योरी समझानी है। बोलो भारत स्वर्ग था ना, अभी नर्क है। ऐसे तो कोई कह न सके कि हम सतयुग में भी हैं, कलियुग में भी हैं। किसको दु:ख मिला तो वह नर्क में है, किसको सुख मिला तो स्वर्ग में है। ऐसे बहुत कहते हैं – दु:खी मनुष्य नर्क में हैं, हम तो बहुत सुख में बैठे हैं, महल माड़ियां आदि सब कुछ हैं। बाहर का बहुत सुख देखते हैं ना। यह भी तुम अभी समझते हो सतयुगी सुख तो यहाँ हो नहीं सकता। ऐसे भी नहीं, गोल्डन एज को आइरन एज कहो अथवा आइरन एज को गोल्डन एज कहो एक ही बात है। ऐसे समझने वाले को भी अज्ञानी कहेंगे। तो पहले-पहले बाप की थ्योरी बतानी है। बाप ही अपनी पहचान देते हैं। और तो कोई जानते नहीं। कह देते परमात्मा सर्वव्यापी है। अभी तुम चित्र में दिखाते हो – आत्मा और परमात्मा का रूप तो एक ही है। वह भी आत्मा है परन्तु उनको परम आत्मा कहा जाता है। बाप बैठ समझाते हैं – मैं कैसे आता हूँ! सभी आत्माएं वहाँ परमधाम में रहती हैं। यह बातें बाहर वाला तो कोई समझ नहीं सकता। भाषा भी बहुत सहज है। गीता में श्रीकृष्ण का नाम डाल दिया है। अब कृष्ण तो गीता सुनाते नहीं हैं। वह तो सबको कह न सके कि मामेकम् याद करो। देहधारी की याद से तो पाप कटते नहीं हैं। कृष्ण भगवानुवाच – देह के सब संबंध त्याग मामेकम् याद करो परन्तु देह के संबंध तो कृष्ण को भी हैं और फिर वह तो छोटा-सा बच्चा है ना। यह भी कितनी बड़ी भूल है। कितना फ़र्क पड़ जाता है एक भूल के कारण। परमात्मा तो सर्वव्यापी हो नहीं सकता। जिसके लिए कहते हैं सर्व का सद्गति दाता है तो क्या वह भी दुर्गति को पाते हैं! परमात्मा कब दुर्गति को पाता है क्या? यह सब विचार सागर मंथन करने की बातें हैं। टाइम वेस्ट करने की बात नहीं है। मनुष्य तो कह देते कि हमको फुर्सत नहीं है। तुम समझाते हो कि आकर कोर्स लो तो कहते फुर्सत नहीं। दो दिन आयेंगे फिर चार दिन नहीं आयेंगे…..। पढ़ेंगे नहीं तो यह लक्ष्मी-नारायण कैसे बन सकेंगे? माया का कितना फोर्स है। बाप समझाते हैं जो सेकेण्ड, जो मिनट पास होता है वह हूबहू रिपीट होता है। अनगिनत बार रिपीट होते रहेंगे। अभी तो बाप द्वारा सुन रहे हो। बाबा तो जन्म-मरण में आते नहीं। भेंट की जाती है पूरा जन्म-मरण में कौन आता है और न आने वाला कौन? सिर्फ एक ही बाप है जो जन्म-मरण में नहीं आता है। बाकी तो सब आते हैं इसलिए चित्र भी दिखाया है। ब्रह्मा और विष्णु दोनों जन्म मरण में आते हैं। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा पार्ट में आते-जाते हैं। एन्ड हो न सके। यह चित्र फिर भी आकर सब देखेंगे और समझेंगे। बहुत सहज समझ की बात है। बुद्धि में आना चाहिए हम सो ब्राह्मण हैं फिर हम सो क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनेंगे। फिर बाप आयेंगे तो हम सो ब्राह्मण बन जायेंगे। यह याद करो तो भी स्वदर्शन चक्रधारी ठहरे। बहुत हैं जिनको याद ठहरती नहीं। तुम ब्राह्मण ही स्वदर्शन चक्रधारी बनते हो। देवतायें नहीं बनते हैं। यह नॉलेज, कि चक्र कैसे फिरता है, इस नॉलेज को पाने से वह यह देवता बने हैं। वास्तव में कोई भी मनुष्य स्वदर्शन चक्रधारी कहलाने के लायक नहीं है। मनुष्यों की सृष्टि मृत्युलोक ही अलग है। जैसे भारतवासियों की रस्म-रिवाज अलग है, सबका अलग-अलग होता है। देवताओं की रस्म-रिवाज अलग है। मृत्युलोक के मनुष्यों की रस्म-रिवाज अलग। रात-दिन का फर्क है इसलिए सब कहते हैं – हम पतित हैं। हे भगवान, हम सब पतित दुनिया के रहने वालों को पावन बनाओ। तुम्हारी बुद्धि में है पावन दुनिया आज से 5 हज़ार वर्ष पहले थी, जिसको सतयुग कहा जाता है। त्रेता को नहीं कहेंगे। बाप ने समझाया है – वह है फर्स्टक्लास, यह है सेकेण्ड क्लास। तो एक-एक बात अच्छी रीति धारण करनी चाहिए। जो कोई भी आये तो सुनकर वन्डर खावे। कोई तो वन्डर खाते हैं। परन्तु फिर उनको फुर्सत नहीं रहती, जो पुरुषार्थ करे। फिर सुनते हैं पवित्र जरूर रहना है। यह काम विकार ही है जो मनुष्य को पतित बनाता है। इनको जीतने से ही तुम जगतजीत बनेंगे। बाप ने कहा भी है – काम विकार जीत जगतजीत बनो। मनुष्य फिर कह देते मन जीते जगतजीत बनो। मन को वश में करो। अब मन अमन तो तब हो जब शरीर न हो। बाकी मन अमन तो कभी होता ही नहीं। देह मिलती ही है कर्म करने के लिए तो फिर कर्मातीत अवस्था में कैसे रहेंगे? कर्मातीत अवस्था कहा जाता है मुर्दे को। जीते जी मुर्दा, शरीर से न्यारा। तुमको भी शरीर से न्यारा बनने की पढ़ाई पढ़ाते हैं। शरीर से आत्मा अलग है। आत्मा परमधाम की रहने वाली है। आत्मा शरीर में आती है तो उनको मनुष्य कहा जाता है। शरीर मिलता ही है कर्म करने लिए। एक शरीर छूट जायेगा फिर दूसरा शरीर आत्मा को लेना है कर्म करने लिए। शान्त तो तब रहेंगे जब कर्म नहीं करना होगा। मूलवतन में कर्म होता नहीं। सृष्टि का चक्र यहाँ फिरता है। बाप को और सृष्टि चक्र को जानना है, इसको ही नॉलेज कहा जाता है। यह आंखें जब तक पतित क्रिमिनल हैं, तो इन आंखों से पवित्र चीज़ देखने में आ नहीं सकती इसलिए ज्ञान का तीसरा नेत्र चाहिए। जब तुम कर्मातीत अवस्था को पायेंगे अर्थात् देवता बनेंगे फिर तो इन आंखों से देवताओं को देखते रहेंगे। बाकी इस शरीर में इन आंखों से कृष्ण को देख नहीं सकते। बाकी साक्षात्कार किया तो उससे कुछ मिलता थोड़ेही है। अल्पकाल के लिए खुशी रहती है, कामना पूरी हो जाती है। ड्रामा में साक्षात्कार की भी नूँध है, इससे प्राप्ति कुछ नहीं होती। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) शरीर से न्यारी आत्मा हूँ, जीते जी इस शरीर में रहते जैसे मुर्दा – इस स्थिति के अभ्यास से कर्मातीत अवस्था बनानी है।

2) सर्विस का सबूत देना है। देहभान को छोड़ अपना सच्चा-सच्चा समाचार देना है। पास विद् ऑनर होने का पुरुषार्थ करना है।

वरदान:- सर्व खाते और रिश्ते एक बाप से रखने वाले डबल लाइट फरिश्ता भव
डबल लाइट फरिश्ता बनने के लिए देह के भान से भी परे रहो क्योंकि देह भान मिट्टी है, यदि इसका भी बोझ है तो भारीपन है। फरिश्ता अर्थात् अपनी देह के साथ भी रिश्ता नहीं। बाप का दिया हुआ तन भी बाप को दे दिया। अपनी वस्तु दूसरे को दे दी तो अपना रिश्ता खत्म हुआ। सब हिसाब-किताब, सब लेन-देन बाप से बाकी सब पिछले खाते और रिश्ते खत्म – ऐसे सम्पूर्ण बेगर ही डबल लाइट फरिश्ते हैं।
स्लोगन:- अपनी विशेषताओं को प्रयोग में लाओ तो हर कदम में प्रगति का अनुभव करेंगे।

TODAY MURLI 9 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 9 January 2020

09/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this drama is eternally predestined and is created very beautifully. You children know the pastpresent and future of this drama very well.
Question: On the basis of which attraction will all souls be drawn to you?
Answer: The basis of attraction is your purity and power of yoga. It is only through this that there will be your expansion. As you make progress, people will instantly recognise the Father. When they see that so many are coming here to claim their inheritance, many of them will also come. The longer it takes, the more attraction you will have.

Om shanti. You spiritual children know that you came down here as souls from the supreme abode; this is in your intellects. The Father comes when most souls have come down and only a few remain up there. It is now easy for you children to explain to everyone that the Resident of the faraway land comes at the end of the cycle. Only a few remain there; the population here is continuing to grow. You also understand this. Since no one knows the Father, how could they know the beginning, middle or end of His creation? This drama is unlimited. Just as actors in a limited play know that so-and-so has received such-and-such a part, so the actors in this drama should also know about it. Those people produce short dramas of things that happened in the past. They can’t create anything about the future, but only about things that happened in the past. They also produce and show dramas based on stories they invent. They don’t know the future. You know that, now the Father has come, establishment is taking place and that we are claiming our inheritance. Whoever comes, we have to show them the way to attain a deity status. How did those deities become so elevated? No one knows this. In fact, the original eternal religion is only of deities. Because those souls have forgotten their own religion, they say that all religions are one and the same for them. You children know that Baba is now teaching you. All of these pictures etc. have been created under the Father’s directions. The Father enabled them to paint the pictures by giving them divine visions. Some even painted them using their own intellects. It has been explained to you children that you should definitely write: You are actors in this play. However, none of you knows the Creator and Director of this play. The Father is now establishing a new religion. The old world has to be made new. Keep this in your intellects. The Father only comes to the old world to make you into Brahmins. He then makes you Brahmins into deities. Just look how good this method is! This drama is eternally predestined and it is created very beautifully. The Father says: Each day I tell you very deep and subtle new aspects. When destruction begins, you children will know the past history of everything that has happened. You will then go into the golden age and you won’t remember any of this past history. At that time you will act out your practical parts. To whom would you speak of the past? Lakshmi and Narayan know nothing of their past. You have the pastpresent and future in your intellects. You know how destruction takes place and how you build palaces and rule your kingdom. They definitely will be built. The scenes and scenery of heaven are absolutely unique. As you continue to play your parts, you will come to know everything. This is called bloodshed without cause. Unnecessary loss continues to take place. When there are earthquakes, there is so much damage caused. When they drop the bombs, that is also unnecessary. No one does anything to initiate that. Those who have broad and unlimited intellects understand that destruction did take place and that there was fighting and quarrelling. People even create dramas about that. You can understand that it would definitely have touched someone’s intellect at some point. You are now in practical forms. You also become the masters of that kingdom. You know that you will definitely go to the new world. Those who take knowledge, either from Brahma or the Brahma Kumaris, and become Brahmins can go there. Many Brahmins still live at home with their families. You would not even know many of them. So many come to the centres, and so you would not be able to remember all of them. There are so many Brahmins there. As the number of us grows, there will be countless Brahmins. An accurate calculation of them can’t be made. A king would not know accurately how many people there are in his kingdom. They could have an approximate idea from a population census, but there would still be a difference. At present, you are studentsthis one is also a student. All of you are brothers, which means that all of you souls have to remember the Father. Even a baby is taught to say “Baba, Baba”. You know that, as you make progress, people will come and instantly recognise the Father. When people see how so many are coming here to claim their inheritance, many of them will also come. The longer it takes, the more attraction you will have. To the extent that you become pure and stay in a stage of yoga, so the more attractive you will become. Others will be pulled here. The Father also attracts them. We will then continue to expand quickly. Methods will be created for that too. Who is the God of the Gita? It is very easy to remember Krishna because he is corporeal. The incorporeal Father says: Constantly remember Me alone. Everything depends on this aspect. This is why Baba has told you to make everyone write this down. Make a long list of these things so that many people will come to know them. When the intellects of you Brahmins have firm faith, the tree will grow. However, Maya’s storms will come until the very end. When you have become victorious, there will neither be effort nor Maya. It is in trying to have remembrance that most of you become defeated. The stronger you become in yoga, the less you will be defeated. A kingdom is being established. You children must have faith that it will be your kingdom. Where would the diamonds and jewels be brought from? Where would the mines come from? All of those things did exist. There should be no confusion about this. You will see in a practical way whatever is to happen. Heaven definitely has to be created. Those who study well have the faith that they will become the future princes and that they will have palaces of diamonds and jewels. Serviceable children will have this faith, but those who are going to attain a low status would never even think about how they are to build their palaces. It would be those who do plenty of service who would receive palaces, would it not? There will be maids and servants to serve you. Only serviceable children will have such thoughts. You children can understand which of you do good service and which ones will bow down to the educated ones. Baba too has these thoughts. An old person is said to be like a small child, and so he starts to behave like a child. Baba only has one act to perform: to teach His children. If you want to become a bead of the rosary, you do have to make a lot of effort. You have to become very sweet and follow shrimat, for only then can you become elevated. This is something to be understood. The Father says: Judge for yourself whether whatever I tell you is right. As you make progress, you will have visions. As the end comes closer, you will recall that 5000 years have now passed and that you have to return to your kingdom. Having gone around the cycle of 84 births you have now come here. It is said that Vasco da Gama sailed around the world. Similarly, you went around the world whilst taking 84 births. There was only one Vasco da Gama who went around the world. Here, too, it is only the One who can tell you the secrets of your 84 births and how the dynasties continue. Examine yourself to see whether you have any body consciousness inside you or not. Check this so that you don’t fail or become upset about it. When you develop the power of yoga by remembering Shiv Baba, no one will be able to slap you. You will then be protected by the shield of your power of yoga and no one will be able to do anything to you. If you get hurt, there must definitely be some body consciousness in you. No one would be able to hurt you when you are soul conscious. It must be your own mistake. Reasoning also says that no one can do anything to those who are soul conscious. This is why you do have to make effort to become soul conscious. You also have to give everyone this message: God says, “Manmanabhav!” Which God? You children have to explain this too. You will become victorious through this one aspect. The intellects of all the people in the world believe that it was God Krishna who said this. Therefore, when you explain to them, they will say that it must be true. However, only when they understand as you have understood will they say that whatever the Father teaches must be correct. Krishna wouldn’t say, “No one can know me as I am and what I am”. Everyone can know Krishna. It is not that God speaks through the body of Krishna; no. Krishna only exists in the golden age. How could God come at that time? God only comes at the most auspicious confluence age. Therefore, you children have to make them all write this down. You should have a very large book printed containing all their opinions. When others see how many people have already written those things, they too will write something. Then, you will have many people’s written opinions on who the God of the Gita is. At the top, it should say: The Father is the Highest on High. Krishna wouldn’t be called the Highest on High. He cannot say: Constantly remember Me alone. God is higher than Brahma. This is the main thing, and it is because of not understanding this that they have become bankrupt. Baba doesn’t say that you can stay here; no. Once you have adopted the Satguru you can return home. A bhatthi had to be made at the beginning. A bhatthi has also been mentioned in the scriptures, but no one knows what that bhatthi refers to. A bhatthi (furnace) is for baking bricks. Some bricks are made very strong whereas others crumble. Here, too, none are like gold, but there are plenty like pebbles and stones. There is plenty of regard for antiques. There is also plenty of regard now for Shiv Baba and the deities. However, in the golden age, there is no question of regard. People there don’t go searching for antiques. There, you are fully content and so you don’t need to search for anything. You don’t have to dig for anything; digging starts when the copper age starts. When they start to construct a building now and they discover something in the ground, they think that there must be many ancient things underneath. In the golden age, you aren’t concerned about such things. There, there is nothing but gold. Even the bricks are golden. Whatever is fixed, whatever you saw happen a cycle ago, you will see again. When a soul is invoked, that too is fixed in the drama. You should not be confused about that. Second by second, that soul continues to play his part and then he vanishes. This is a study. There are innumerable pictures on the path of devotion but your pictures are filled with meaning. You don’t have any meaningless pictures. Unless you explain the pictures to people, they won’t be able to understand them. Only the Father, the wise One, the knowledgefull One, can explain. You now receive directions from God. You are part of God’s dynasty, of God’s clan. God comes and establishes your dynasties. At present you don’t have a kingdom. You did have a kingdom, but not any more. The deity religion definitely did exist. There were the kingdoms of the sun and moon dynasties. The Brahmin clan as well as the sun and moon dynasties are created through the Gita. No other religions exist at that time. You children now know the beginning, the middle and the end of the world cycle. Previously, you thought that a great annihilation took place. Krishna has been portrayed floating on a pipal leaf in the ocean. Shri Krishna would be number one, but there is no question of an ocean. You children now understand these things very well. Those who study this spiritual study very well will receive great happiness. Only those who study well will pass with honours. When your heart becomes attached to someone, you continue to remember that person; when you should be studying, your intellect would go in that direction. That is why students remain celibate when they study. You children have been told here that your intellects mustn’t go to anyone but the Father. Baba knows that many of you still remember the old world and that, even whilst you are sitting here, you don’t listen to Him. It is the same on the path of devotion. Whilst they are sitting in a spiritual gathering, their intellects wander here and there. This is a very tough and important exam. Whilst sitting here, some of you don’t even listen, whereas others do and experience happiness. They continue to swing in happiness as they sit in front of Baba. Whatever your final thoughts are, if your intellect is in yoga with the Father, they will lead you to your destination. You do have to make effort for this. You receive plenty of wealth here. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become a bead of the rosary of victory, make a lot of effort, become very sweet and follow shrimat.
  2. Yoga is the only shield for your safety, and so you have to accumulate the power of yoga. Make full effort to become soul conscious.
Blessing: May you be spiritually influential and make your thoughts, words and deeds fruitful.
Whenever you come into contact with someone, let the feelings in your mind for that one be influenced by love, co-operation and benevolence. Let every word of yours be full of the influence of courage and enthusiasm. Let your time not be wasted in ordinary chit-chat. In the same way, let every deed of yours be fruitful, whether it is for yourself or for others. Be influential in every way with one another too. Be spiritually influential in service and you will then become an instrument to reveal the Father.
Slogan: Become such a jewel with pure and positive thoughts for others that your rays continue to enlighten the world.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

Concentration of the mind will enable you to experience a constant and stable stage. With the power of concentration you will easily be able to experience the stage of an avyakt angel. Concentration means to be able to concentrate your mind wherever you want, as you want for as long as you want. The mind should be under your control.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 January 2020

09-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – यह अनादि बना-बनाया ड्रामा है, यह बहुत अच्छा बना हुआ है, इसके पास्ट, प्रेजन्ट और फ्युचर को तुम बच्चे अच्छी तरह जानते हो”
प्रश्नः- किस कशिश के आधार पर सभी आत्मायें तुम्हारे पास खींचती हुई आयेंगी?
उत्तर:- पवित्रता और योग की कशिश के आधार पर। इसी से ही तुम्हारी वृद्धि होती जायेगी। आगे चलकर बाप को फट से जान जायेंगे। देखेंगे इतने ढेर सब वर्सा ले रहे हैं तो बहुत आयेंगे। जितनी देरी होगी उतनी तुम्हारे में कशिश होती जायेगी।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों को यह तो मालूम है कि हम आत्मायें परमधाम से आती हैं-बुद्धि में है ना। जब सभी आत्मायें आकरके पूरी होती हैं, बाकी थोड़े रहते हैं तब बाप आते हैं। अभी तुम बच्चों को कोई को भी समझाना बहुत सहज है। दूरदेश का रहने वाला सबसे पिछाड़ी में आते हैं। बाकी थोड़े रहते हैं। अभी तक भी वृद्धि होती रहती है ना। यह भी जानते हो – बाप को कोई भी जानते नहीं हैं तो फिर रचना के आदि-मध्य-अन्त को कैसे जानेंगे। यह बेहद का ड्रामा है ना। तो ड्रामा के एक्टर्स को मालूम होना चाहिए। जैसे हद के एक्टर्स को भी मालूम होता है – फलाने-फलाने को यह पार्ट मिला हुआ है। जो चीज़ पास्ट हो जाती है उनका ही फिर छोटा ड्रामा बनाते हैं। फ्युचर का तो बना न सकें। पास्ट जो हुआ है उसे लेकर और कुछ कहानियाँ भी बनाकर ड्रामा तैयार करते हैं, वही सबको दिखाते हैं। फ्युचर को तो जानते ही नहीं। अभी तुम समझते हो बाप आया है, स्थापना हो रही है, हम वर्सा पा रहे हैं। जो जो आते रहते हैं, उनको हम रास्ता बताते हैं-देवी-देवता पद पाने। यह देवतायें इतना ऊंच कैसे बने? यह भी किसको पता नहीं है। वास्तव में आदि सनातन तो देवी-देवता धर्म ही है। अपने धर्म को भूल जाते हैं तो कह देते हैं-हमारे लिए तो सब धर्म एक ही हैं।

अब तुम बच्चे जानते हो बाबा हमको पढ़ा रहे हैं। बाप के डायरेक्शन से ही चित्र आदि बनाये जाते हैं। बाबा दिव्य दृष्टि से चित्र बनवाते थे। कोई तो फिर अपनी बुद्धि से भी बनाते हैं। बच्चों को यह भी समझाया है, यह जरूर लिखो पार्टधारी एक्टर्स तो हैं परन्तु क्रियेटर, डायेरक्टर आदि को कोई नहीं जानते। बाप अब नये धर्म की स्थापना कर रहे हैं। पुराने से नई दुनिया बननी है। यह भी बुद्धि में रहना चाहिए। पुरानी दुनिया में ही बाप आकर के तुमको ब्राह्मण बनाते हैं। ब्राह्मण ही फिर देवता बनेंगे। युक्ति देखो कैसी अच्छी है। भल यह है अनादि बना-बनाया ड्रामा, परन्तु बना बहुत अच्छा है। बाप कहते हैं तुमको गुह्य-गुह्य बातें नित्य सुनाता रहता हूँ। जब विनाश शुरू होगा तो तुम बच्चों को पास्ट की सारी हिस्ट्री मालूम होगी। फिर सतयुग में जायेंगे तो पास्ट की हिस्ट्री कुछ भी याद नहीं रहेगी। प्रैक्टिकल एक्ट करते रहते हो। पास्ट का किसको सुनायेंगे? यह लक्ष्मी-नारायण पास्ट को बिल्कुल जानते नहीं। तुम्हारी बुद्धि में तो पास्ट, प्रेजन्ट, फ्यूचर सब है-कैसे विनाश होगा, कैसे राजाई होगी, कैसे महल बनायेंगे? बनेंगे तो जरूर ना। स्वर्ग की सीन-सीनरियाँ ही अलग हैं। जैसे-जैसे पार्ट बजाते रहेंगे मालूम पड़ता जायेगा। इसको कहा जाता है-खूने नाहेक खेल। नाहेक नुकसान होता रहता है ना। अर्थक्वेक होती है, कितना नुकसान होता है। बाम्ब्स फेंकते हैं, यह नाहेक है ना। कोई कुछ करता थोड़ेही है। विशाल बुद्धि जो हैं वह समझते हैं-विनाश बरोबर हुआ था। जरूर मारामारी हुई थी। ऐसा खेल भी बनाते हैं। यह तो समझ भी सकते हैं। कोई समय किसकी बुद्धि में टच होता है। तुम तो प्रैक्टिकल में हो। तुम उस राजधानी के मालिक भी बनते हो। तुम जानते हो अभी उस नई दुनिया में चलना जरूर है। ब्राह्मण जो बनते हैं, ब्रह्मा द्वारा या ब्रह्माकुमार-कुमारियों द्वारा नॉलेज लेते हैं तो वहाँ आ जाते हैं। रहते तो अपने घर-गृहस्थ में हैं ना। बहुतों को तो जान भी न सको। सेन्टर्स पर कितने आते हैं। इतने सब याद थोड़ेही रह सकते हैं। कितने ब्राह्मण हैं, वृद्धि होते-होते अनगिनत हो जायेंगे। एक्यूरेट हिसाब निकाल नहीं सकेंगे। राजा को मालूम थोड़ेही पड़ता है-एक्यूरेट हमारी प्रजा कितनी है। भल आदमशुमारी आदि निकालते हैं फिर भी फ़र्क पड़ जाता है। अब तुम भी स्टूडेन्ट, यह भी स्टूडेन्ट हैं। सब भाइयों (आत्माओं) को याद करना है-एक बाप को। छोटे बच्चों को भी सिखलाया जाता है-बाबा-बाबा कहो। यह भी तुम जानते हो आगे चलकर बाप को फट से जान जायेंगे। देखेंगे इतने ढेर सब वर्सा ले रहे हैं तो बहुत आयेंगे। जितना देरी होगी उतना तुम्हारे में कशिश होती जायेगी। पवित्र बनने से कशिश होती है, जितना योग में रहेंगे उतना कशिश होगी, औरों को भी खीचेंगे। बाप भी खींचते हैं ना। बहुत वृद्धि को पाते रहेंगे। उसके लिए युक्तियाँ भी रची जा रही हैं। गीता का भगवान कौन? कृष्ण को याद करना तो बहुत सहज है। वह तो साकार रूप है ना। निराकार बाप कहते हैं मामेकम् याद करो-इस बात पर ही सारा मदार है इसलिए बाबा ने कहा था इस बात पर सबसे लिखाते रहो। बड़ी-बड़ी लिस्ट बनायेंगे तो मनुष्यों को पता पड़ेगा।

तुम ब्राह्मण जब पक्के निश्चयबुद्धि होंगे, झाड़ वृद्धि को पाता रहेगा। माया के तूफान भी पिछाड़ी तक चलेंगे। विजय पा ली फिर न पुरूषार्थ रहेगा, न माया रहेगी। याद में ही बहुत करके हारते हैं। जितना तुम योग में मजबूत रहेंगे, उतना हारेंगे नहीं। यह राजधानी स्थापन हो रही है। बच्चों को निश्चय है हमारी राजाई होगी फिर हम हीरे-जवाहर कहाँ से लायेंगे! खानियाँ सब कहाँ से आयेंगी! यह सब थे तो सही ना। इसमें मूंझने की तो बात ही नहीं। जो होना है सो प्रैक्टिकल में देखेंगे। स्वर्ग बनना तो जरूर है। जो अच्छी रीति पढ़ते हैं, उन्हों को निश्चय रहेगा हम जाकर भविष्य में प्रिन्स बनूँगा। हीरे-जवाहरों के महल होंगे। यह निश्चय भी सर्विसएबुल बच्चों को ही होगा जो कम पद पाने वाले होंगे, उनको तो कभी ऐसे-ऐसे ख्याल आयेंगे भी नहीं कि हम महल आदि कैसे बनायेंगे। जो बहुत सर्विस करेंगे वही महलों में जायेंगे ना। दास-दासियाँ तो तैयार मिलेंगे। सर्विसएबुल बच्चों को ही ऐसे-ऐसे ख्याल आयेंगे। बच्चे भी समझते हैं कौन-कौन अच्छी सर्विस करने वाले हैं। हम तो पढ़े हुए के आगे भरी ढोयेंगे। जैसे यह बाबा है, बाबा को ख्यालात रहती है ना। बूढ़ा और बालक समान हो गया इसलिए इनकी एक्टिविटी भी बचपन मिसल होती है। बाबा की तो एक ही एक्ट है-बच्चों को पढ़ाना, सिखलाना। विजय माला का दाना बनना है तो पुरुषार्थ भी बहुत चाहिए। बहुत मीठा बनना है। श्रीमत पर चलना पड़े तब ही ऊंच बनेंगे। यह तो समझ की बात है ना। बाप कहते हैं हम जो सुनाते हैं उस पर ज़ज़ करो। आगे चल और भी तुमको साक्षात्कार होता रहेगा। नजदीक आते रहेंगे तो याद आती रहेगी। 5 हज़ार वर्ष हुए हैं अपनी राजधानी से लौटे हैं। 84 जन्मों का चक्र लगाकर आये हैं। जैसे वास्कोडिगामा के लिए कहते हैं-वर्ल्ड का चक्र लगाया। तुमने इस वर्ल्ड में 84 का चक्र लगाया है। वो वास्कोडिगामा एक गया ना। यह भी एक है, जो तुमको 84 जन्मों का राज़ समझाते हैं। डिनायस्टी चलती है। तो अपने अन्दर देखना है-हमारे में कोई देह-अभिमान तो नहीं है? फंक तो नहीं हो जाते हैं? कहाँ बिगड़ते तो नहीं हैं?

तुम योगबल में होंगे, शिवबाबा को याद करते रहेंगे तो तुमको कोई भी चमाट आदि मार नहीं सकेंगे। योगबल ही ढाल है। कोई कुछ कर भी नहीं सकेंगे। अगर कोई चोट खाते हैं तो जरूर देह-अभिमान है। देही-अभिमानी को चोट कोई मार न सके। भूल अपनी ही होती है। विवेक ऐसा कहता है-देही-अभिमानी को कोई कुछ भी कर नहीं सकेंगे इसलिए कोशिश करनी है देही-अभिमानी बनने की। सबको पैगाम भी देना है। भगवानुवाच, मन्मनाभव। कौन-सा भगवान? यह भी तुम बच्चों को समझाना है। बस इस एक ही बात में तुम्हारी विजय होनी है। सारी दुनिया में मनुष्यों की बुद्धि में कृष्ण भगवानुवाच है। जब तुम समझाते हो तो कहते हैं – बात तो बरोबर है। परन्तु जब तुम्हारे मुआफिक समझें तब कहें बाबा जो सिखलाते हैं वह ठीक है। कृष्ण थोड़ेही कहेंगे – मैं ऐसा हूँ, मेरे को कोई जान नहीं सकते। कृष्ण को तो सब जान लेवें। ऐसे भी नहीं है कि कृष्ण के तन से भगवान कहते हैं। नहीं। कृष्ण तो होता ही है सतयुग में। वहाँ कैसे भगवान आयेंगे? भगवान तो आते ही हैं पुरुषोत्तम संगमयुग पर। तो तुम बच्चे बहुतों से लिखाते जाओ। तुम्हारी ऐसी बड़ी चौपड़ी छपी हुई होनी चाहिए, उसमें सबकी लिखत हो। जब देखेंगे यह तो इतने सबने ऐसे लिखा है तो खुद भी लिखेंगे। फिर तुम्हारे पास बहुतों की लिखत हो जायेगी-गीता का भगवान कौन? ऊपर में भी लिखा हुआ हो कि ऊंच ते ऊंच बाप ही है, कृष्ण तो ऊंच ते ऊंच है नहीं। वह कह न सके कि मामेकम् याद करो। ब्रह्मा से भी ऊंच ते ऊंच भगवान् है ना। मुख्य बात ही यह है जिसमें सबका देवाला निकल जायेगा।

बाबा कोई ऐसे नहीं कहते कि यहाँ बैठना है। नहीं, सतगुरू को अपना बनाए फिर अपने घर में जाकर रहो। शुरू में तो तुम्हारी भट्ठी थी। शास्त्रों में भी भट्ठी की बात है परन्तु भट्ठी किसको कहा जाता है, यह कोई नहीं जानते हैं। भट्ठी होती है ईटों की। उनमें कोई पक्की, कोई खंजर निकलती हैं। यहाँ भी देखो सोना है नहीं, बाकी भित्तर-ठिक्कर है। पुरानी चीज़ का मान बहुत है। शिवबाबा का, देवताओं का भी मान है ना। सतयुग में तो मान की बात ही नहीं। वहाँ थोड़ेही पुरानी चीजें बैठ ढूंढते हैं। वहाँ पेट भरा हुआ रहता है। ढूंढने की दरकार नहीं रहती। तुमको खोदना करना नहीं पड़ता, द्वापर के बाद खोदना शुरू करेंगे। मकान बनाते हैं, कुछ निकल आता है तो समझते हैं नीचे कुछ है। सतयुग में तुमको कोई परवाह नहीं। वहाँ तो सोना ही सोना होता है। ईटें ही सोने की होती हैं। कल्प पहले जो हुआ है, जो नूंध है वही साक्षात्कार होता है। आत्माओं को बुलाया जाता है, वह भी ड्रामा में नूंध है। इसमें मूंझने की दरकार नहीं। सेकण्ड बाई सेकण्ड पार्ट बजता है, फिर गुम हो जाता है। यह पढ़ाई है। भक्ति मार्ग में तो अनेक चित्र हैं। तुम्हारे यह चित्र सब अर्थ सहित हैं। अर्थ बिगर कोई चित्र नहीं। जब तक तुम किसको समझाओ नहीं तब तक कोई समझ न सके। समझाने वाला समझदार नॉलेजफुल एक बाप ही है। अभी तुमको मिलती है ईश्वरीय मत। ईश्वरीय घराने के अथवा कुल के तुम हो। ईश्वर आकर घराना ही स्थापन करते हैं। अभी तुमको राजाई कुछ नहीं है। राजधानी थी, अब नहीं है। देवी-देवताओं का धर्म भी जरूर है। सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी राजाई है ना। गीता से ब्राह्मण कुल भी बनता है, सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी कुल भी बनता है। बाकी और कोई हो न सकें। तुम बच्चे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जान गये हो। आगे तो समझते थे-बड़ी प्रलय होती है। पीछे दिखाते हैं-सागर में पीपल के पत्ते पर कृष्ण आते हैं। पहला नम्बर तो श्रीकृष्ण ही आते हैं ना। बाकी सागर की बात नहीं है, अभी तुम बच्चों को समझ बड़ी अच्छी आई है। खुशी भी उनको होगी जो रूहानी पढ़ाई अच्छी रीति पढ़ते होंगे। जो अच्छी रीति पढ़ते हैं वही पास विद् ऑनर होते हैं। अगर कोई से दिल लगी हुई होगी तो पढ़ाई के समय भी वह याद आता रहेगा। बुद्धि वहाँ चली जायेगी इसलिए पढ़ाई हमेशा ब्रह्मचर्य में होती है। यहाँ तुम बच्चों को समझाया जाता है एक बाप के सिवाए और कहाँ भी बुद्धि नहीं जानी चाहिए। परन्तु जानते हैं बहुतों को पुरानी दुनिया याद आ जाती है। फिर यहाँ बैठे भी सुनते ही नहीं। भक्ति मार्ग में भी ऐसे होते हैं। सतसंग में बैठे भी बुद्धि कहाँ-कहाँ भागती रहेगी। यह तो बहुत बड़ा जबरदस्त इम्तहान है। कोई तो जैसे बैठे हुए भी सुनते नहीं हैं। कई बच्चों को तो खुशी होती है। सामने खुशी में झूलते रहेंगे। बुद्धि बाप के साथ होगी तो फिर अन्त मति सो गति हो जायेगी। इसके लिए बहुत अच्छा पुरुषार्थ करना है। यहाँ तो तुमको बहुत धन मिलता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विजय माला का दाना बनने के लिए बहुत अच्छा पुरुषार्थ करना है, बहुत मीठा बनना है, श्रीमत पर चलना है।

2) योग ही सेफ्टी के लिए ढाल है इसलिए योगबल जमा करना है। देही-अभिमानी बनने की पूरी कोशिश करनी है।

वरदान:- हर संकल्प, बोल और कर्म को फलदायक बनाने वाले रूहानी प्रभावशाली भव
जब भी किसी के सम्पर्क में आते हो तो उनके प्रति मन की भावना स्नेह, सहयोग और कल्याण की प्रभावशाली हो। हर बोल किसी को हिम्मत उल्लास देने के प्रभावशाली हों। साधारण बात-चीत में समय न चला जाए। ऐसे ही हर कर्म फलदायक हो-चाहे स्व के प्रति, चाहे दूसरों के प्रति। आपस में भी हर रूप में प्रभावशाली बनो। सेवा में रूहानी प्रभावशाली बनो तब बाप को प्रत्यक्ष करने के निमित्त बन सकेंगे।
स्लोगन:- ऐसी शुभचिंतक मणी बनो जो आपकी किरणें विश्व को रोशन करती रहें।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

मन की एकाग्रता ही एकरस स्थिति का अनुभव करायेगी। एकाग्रता की शक्ति द्वारा अव्यक्त फरिश्ता स्थिति का सहज अनुभव कर सकेंगे। एकाग्रता अर्थात् मन को जहाँ चाहो, जैसे चाहो, जितना समय चाहो उतना समय एकाग्र कर लो। मन वश में हो।

TODAY MURLI 9 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 9 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 8 January 2019 :- Click Here

09/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, continue to remember Baba with love. Constantly follow shrimat and always pay attention to the study and everyone will give you regard.
Question: Which children can experience supersensuous joy?
Answer: Those who are soul conscious. 1) To achieve this: when you are speaking or explaining to someone, consider yourself, the soul, to be speaking to your brother soul. By making the vision of brotherhood firm, you will continue to become soul conscious. 2) Only those who have the intoxication of being God’s student s will experience supersensuous joy.
Song: Who has come to the door of my mind with the sound of ankle bells?

Om shanti. The Father sits here and explains to you children. In no other organisation do they say that the Father is explaining to His children. You children know that the Father of all the children truly is One. All are brothers. You children definitely receive the inheritance from that Father. You can explain the cycle very clearly. This is the confluence age when you receive liberation and liberation-in-life. When you children go into liberation-in-life, all the rest will go into liberation. He alone is called the Bestower of Salvation, the Liberator and the Guide. There are so many human beings in the kingdom of Ravan. In the kingdom of Rama, there is just the one original, eternal, deity religion. That is called “Arya” and “Unarya”. Those who are reformed are said to be Aryan and those who are unreformed are called “Unaryan”. No one knows the meaning of this or how the reformed ones became unreformed. Arya was not a religion. Those deities were reformed and then, while taking 84 births, they became unreformed. Those who were the highest, worthy-of-worship ones then became worshippers. Only the Father explains to you the meaning of “Hum so”. It is very good to explain the picture of the ladder. It isn’t that souls are the Supreme Soul and that the Supreme Soul is a soul; no. This is a variety play. You know that you were worthy of worship and that you then became worshippers, that you were deities and that you then became warriors, etc. You would definitely come down the ladder. There is this account of who takes 84 births. The Father says: You don’t know your own births. I tell you about them. This is a cycle and we are the ones who become deities, warriors etc. within it. Twenty one births is very well known. People don’t know these things. They are tamopradhan. Now, only you children receive all the knowledge but hardly any understand it. That is why it is said: Only a handful out of multimillions will come and take this knowledge and belong to the deity religion. You shouldn’t be amazed about this. It is easy to explain the picture of the cycle. That is the golden age whereas this is the iron age. There are very few people in the golden age. The tree is small at first and then it grows. No one knows about this tree. They hardly understand anything about Brahma. Tell them that Brahmins, the mouth-born creation of Brahma, are definitely needed. They are adopted children. Those brahmins are a physical creation whereas you Brahmins are the mouth-born creation. This is the foreign kingdom of Ravan. The Father has to come and establish the kingdom of Rama. So, He would enter someone. See, this one is standing at the very top of the tree. It has now reached the state of total decay. The Father says: I enter this one at the end of the last of his many births. This is the final one of his 84 births and he is doing tapasya. We don’t call him God. People of the world have said that God is omnipresent and that He is in the pebbles and stones. This is why they themselves have become like pebbles and stones. Everything of the deities is unique. You are now studying and claiming that status. This is such an elevated study. Those deities are also called gods and goddesses because they are pure and that religion is established by God Himself. So they would surely be a god and goddess, but they are called the emperor and empress. To call Shri Lakshmi and Shri Narayan a god and goddess is blind faith because there is only one God. You differentiate between Shiva and Shankar and show them to be two beings. Due to this, those people say that you even throw out the deities. You have the whole cycle in your intellects, but only those who are maharathis are able to explain this very clearly. There are many who listen to this, but it doesn’t sit in their intellects, and so what would they become? They would become maids and servants worth a few pennies. As you make further progress you will have visions, but you won’t be able to do anything at that time. T ime will have come to an end and so what would you be able to do then? This is why Baba continues to caution you. However, it is not possible that everyone will become elevated. Their vessels are not clean; their intellects are filled with rubbish. You need to make very good effort in this. You need to practi s e explaining the pictures a great deal. Otherwise, you will have to repent at the end. You souls are receiving this food. These things have to be explained to everyone. There is no question of being afraid. When you have museums and exhibitions at big places, your name is glorified. Baba told you to ask everyone for their opinion. Those too should be printed. You children have to do a lot of service. You have to check whether or not those people understand that that is the new world and that this is the old world. Anyone should be able to understand this but, because they have lengthened the duration of the cycle, people have become confused. First of all, you have to give the Father’s introduction. Those who remain soul conscious are able to experience supersensuous joy. Nothing will happen by you just giving lectures. When you give lectures, you have to understand: I, this soul, am explaining to my brother souls. It requires a lot of effort to become soul conscious, but you children repeatedly forget. The Father Himself comes and explains to you children. It is remembered that souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. Only you can understand the meaning of this. Those who are maharathis have to practi s e considering themselves to be souls and remembering the Father a great deal. Only then will they be able to consider themselves to be powerful. What would those who don’t consider themselves to be souls be able to imbibe? Only by having remembrance will you be filled with power. It is not said: the power of knowledge. It is said: The power of yoga. It is only with the power of yoga that you become the masters of the world. You now have to make many others similar to yourselves. Until you make many others similar to yourselves, destruction cannot take place. Although a big war would begin, it would then end. Many people now have bombs, but those are not for keeping. The old world definitely has to be destroyed and the original, eternal religion definitely has to be established. After a short time, everyone will say: Truly, this is the same great war. God is definitely here. When many people come to you, everyone will also begin to accept you and say: These people are growing fast; they have a lot of might. To the extent that you stay in remembrance, accordingly, you will be filled with power. You give others light by your having remembrance of the Father. This Dada (Brahma) also says: These children do much better service than I do. Now, there is still time. No one can stay in yoga accurately. They themselves feel that they lack yoga and this is why the arrow doesn’t strike the target. God is filling the kumaris with the arrows of knowledge. You are Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. This one is Brahma and you are the adopted children. There is just the one Creator and all the rest are studying. Brahma is also included in that. So then, this is the creation. You are going to become deities; you are imbibing divine virtues. In some cases, both wheels (a couple) are not able to follow this path. It is as though they are standing on sand. Baba does not mention any names. However, you should understand that Baba is telling the truth. You children, too, can know the natures of those you work with. You children understand that you were the crown on the head and that you are now becoming that once again. When you explain to others, they are at first not ready to believe you. Then, gradually, they begin to understand. A lot of wisdom is needed for this. The intellect is in the soul. The soul is the truth, the living being and the embodiment of bliss. You children are now being made to become soul conscious. Not until the Father comes can anyone become soul conscious. The Father now says: May you be soul conscious! Constantly remember Me alone and you will receive power from Me. This religion is very powerful; it rules over the whole world. Is this a small thing? You receive power by having yoga with the Father. This is a new thing which you have to explain very clearly. He alone is the unlimited Father of souls. He alone is the Creator of the new world. You can tell them the occupation of Shiva and what He comes and does. They celebrate the birthday of Krishna and also of Shiva. Now, who is the greater of the two? The Highest on High is the incorporeal One. What did He do that people celebrate the birthday of Shiva? What did Krishna do? It is written that the Supreme Father, the Supreme Soul, enters an ordinary, old body and carries out establishment. There are many different opinions. There is only one shrimat through which you become elevated. How could you become elevated by following the dictates of human beings? These are God’s directions which you only receive once, at the confluence age. Deities do not give directions. They change from human beings into deities and that’s it. There, they don’t adopt gurus etc. Here, human beings take directions from gurus. Therefore, you have to explain to them tactfully that you are Raja Yogis. Hatha yogis can never teach Raja Yoga; they belong to the path of isolation. Only those who belong to the family path should go on pilgrimages. You children must not become confused about anything. This is the predestined drama which continues to repeat. Your service continues as it did in the previous cycle. The drama inspires you to make effort. You do it exactly as you did in the previous cycle. You can understand from the behaviour of those who make effort. This is why, at the exhibitions, you have to appoint a guide for a group , so that that guide can explain very well. The Father who is teaching you knows this very well. He makes your intellects very broad and unlimited. You should have the intoxication of whose children you are! God is teaching you! If some are unable to study, they run away. God also understands: This one is not My child. You saw how some children of God were studying and then ran away. Then, after understanding something, they began to study again. If they then stay in yoga very well, they can claim a high status. They would understand that they truly wasted a lot of time by leaving such a school. They will definitely claim their inheritance from the Father now. By remembering the Father and saying, “Baba, Baba!”, you would have goose pimples. Baba is inspiring us to claim an elevated status. We are so fortunate! You should repeatedly have remembrance of Baba and also continue to follow directions so there can then be a lot of progress. Everyone would give such a person a lot of regard. Baba says: The uneducated ones will bow down in front of the educated ones. Those who have body consciousness cannot imbibe divine virtues. Your faces should be firstclass. It is said: Ask the ones God is teaching about supersensuous joy. You should pay so much attention to the study and also follow shrimat. Even the world becomes pure with your power of yoga. You make the world pure with yoga. It is a wonder! You have to lift the mountain with your fingers. (A memorial of the Goverdhan mountain lifted by everyone’s finger of co-operation.) That is a symbol of those who made this dirty world pure. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order for your intellect to imbibe true knowledge, you have to make the vessel of your intellect pure and clean. Remove wasteful things from your intellect.
  2. Pay full attention to imbibing divine virtues and the study and experience supersensuous joy. Always maintain the intoxication of being God’s children and that He Himself is teaching you.
Blessing: May you always be happy hearted and stay beyond any questions of “Why?” and “What?” by becoming an embodiment of attainments.
Souls who are complete and embodiments of attainment cannot ever have any type of question about anything. The personality of happiness will be visible on their faces and in their activity; this is called contentment. If there is less happiness the reason for that is a lack of some attainment and the reason for a lack of some attainment is one or another desire. Having many subtle desires takes you towards some lack of attainments. Therefore, put aside temporary desires, become embodiments of attainment and you will always remain happy hearted.
Slogan: Remain absorbed in God’s love and Maya’s attraction will end.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

You experienced Father Brahma as a walking and moving angel, completely without any body consciousness. While performing actions, talking to others, giving directions and increasing each one’s zeal and enthusiasm, he always remained beyond the body and gave the experience of a subtle light. Similarly, follow the Father. Constantly remain beyond the consciousness of the body. Let each one only see the detached form. This is known as the angelic stage while living in the body.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 January 2019

To Read Murli 8 January 2019 :- Click Here
09-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाबा को प्यार से याद करते रहो, श्रीमत पर सदा चलो, पढ़ाई पर पूरा अटेन्शन दो तो तुम्हें सब रिगॉर्ड देंगे।”
प्रश्नः- अतीन्द्रिय सुख का अनुभव किन बच्चों को हो सकता है?
उत्तर:- 1- जो देही-अभिमानी हैं, इसके लिए जब किसी से बात करते हो या समझाते हो तो समझो मैं आत्मा भाई से बात करता हूँ। भाई-भाई की दृष्टि पक्की करने से देही-अभिमानी बनते जायेंगे। 2- जिन्हें नशा है कि हम भगवान के स्टूडेन्ट हैं उन्हें ही अतीन्द्रिय सुख का अनुभव होगा।
गीत:- कौन आया मेरे मन के द्वारे… 

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। दूसरी कोई संस्था में ऐसे नहीं कहते कि बाप बच्चों को समझाते हैं। बच्चे जानते हैं बरोबर सब बच्चों का बाप एक ही है। सब ब्रदर्स हैं। उस बाप से जरूर बच्चों को वर्सा मिलता है। चक्र पर भी तुम अच्छी रीति समझा सकते हो कि यह है संगम जबकि मुक्ति और जीवनमुक्ति मिलती है। तुम बच्चे जीवनमुक्ति में जायेंगे तो बाकी सब मुक्ति में जायेंगे। सद्गति दाता, लिबरेटर, गाइड, उनको ही कहा जाता है। रावण राज्य में कितने ढेर मनुष्य हैं। रामराज्य में एक ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। उनको आर्य और अनआर्य कहते हैं। आर्य सुधरे हुए, अनआर्य न सुधरे हुए को कहा जाता है। इसका अर्थ भी कोई नहीं जानते कि सुधरे हुए से अनसुधरे कैसे बने। आर्य कोई धर्म नहीं था। सुधरे हुए यह देवतायें थे फिर 84 जन्म के बाद अनसुधरे बनते हैं। जो ऊंचे ते ऊंच पूज्य थे वही पुजारी बन पड़े। हम सो का अर्थ भी बाप ही समझाते हैं। सीढ़ी पर समझाना बहुत अच्छा है। ऐसे नहीं कि आत्मा सो परमात्मा, परमात्मा सो आत्मा। नहीं। यह तो विराट नाटक है। तुम जानते हो हम सो पूज्य थे फिर पुजारी बनें अर्थात् हम सो देवता फिर सो क्षत्रिय.. बनते हैं। सीढ़ी तो जरूर उतरेंगे ना। यह भी हिसाब है, 84 जन्म कौन लेते हैं। बाप कहते हैं तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो, मैं तुमको बताता हूँ। यह चक्र है, उसमें हम ही सो देवता, क्षत्रिय आदि बनते हैं। 21 जन्म तो नामीग्रामी हैं। मनुष्य तो इन बातों को जानते ही नहीं, तमोप्रधान हैं। अब तुम बच्चों को ही सारी नॉलेज मिलती है, परन्तु समझते कोई मुश्किल हैं, तब कहते हैं कोटों में कोई ही ज्ञान को आकर लेंगे और देवता धर्म वाले बनेंगे, इसमें आश्चर्य नहीं खाना चाहिए। चक्र पर समझाना सहज है। यह सतयुग, यह कलियुग…. क्योंकि सतयुग में होते ही बहुत थोड़े हैं। झाड़ छोटा होता है फिर वृद्धि को पाता है। इस झाड़ का किसको पता नहीं है। और ब्रह्मा की बात भी मुश्किल समझते हैं। बोलो, ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण तो जरूर चाहिए ना। यह एडाप्टेड बच्चे हैं। वह ब्राह्मण हैं कुख वंशावली, यह ब्राह्मण हैं मुख वंशावली। यह है पराया रावण राज्य। बाप को आकर राम राज्य स्थापन करना होता है, तो किसमें तो प्रवेश करेंगे ना। देखो, यह झाड के एकदम पिछाड़ी में खड़ा है, इनकी ज़ड़जड़ीभूत अवस्था है। बाप कहते हैं मैं बहुत जन्मों के अन्त के जन्म में प्रवेश करता हूँ। यह अन्तिम 84 वाँ जन्म है। तपस्या कर रहे हैं। हम इनको भगवान नहीं कहते हैं। दुनिया वालों ने तो भगवान को सर्वव्यापी कह ठिक्कर भित्तर में कह दिया है इसलिए खुद भी पूरे ठिक्कर बन पड़े हैं। देवताओं की तो बात ही न्यारी है। अब तुम पढ़कर यह पद पाते हो, कितनी ऊंची पढ़ाई है। इन देवताओं को भगवान भगवती भी कहते हैं क्योंकि पवित्र हैं और स्वयं भगवान द्वारा ही इस धर्म की स्थापना हुई है। तो जरूर भगवान भगवती होने चाहिए। परन्तु उनको कहा जाता है महारानी महाराजा। बाकी श्री लक्ष्मी-नारायण को भगवती भगवान कहना भी अन्धश्रद्धा है क्योंकि भगवान तो एक ही है ना। तुम शिव और शंकर को भी अलग कर बताते हो। इस पर वो लोग कहते हैं यह देवताओं को भी उड़ा देते हैं। तुम्हारी बुद्धि में तो सारा चक्र है। परन्तु जो महारथी हैं, वही अच्छी तरह समझा सकते हैं। बहुत हैं जो भल सुनते हैं परन्तु बुद्धि में ठहरता नहीं, तो वह क्या बनेंगे? पाई पैसे के दास दासियाँ बनेंगे। आगे चलकर तुमको साक्षात्कार होंगे परन्तु उस समय कुछ कर नहीं सकते। टाइम पूरा हो गया फिर क्या कर सकेंगे इसलिए बाबा सावधान करते रहते हैं। परन्तु सब ऊंच चढ़ जायें यह तो हो नहीं सकता। बर्तन स़ाफ नहीं है, बुद्धि में किचड़-पट्टी भरी हुई है। इसमें पुरुषार्थ बहुत अच्छा चाहिए। चित्रों पर समझाने की बहुत प्रैक्टिस करनी चाहिए। नहीं तो पिछाड़ी में पछताना पड़ेगा। यह आत्मा को फुड़ (भोजन) मिल रहा है। यह तो सबको समझाने की बातें हैं। डरने की कोई बात नहीं। बड़े-बड़े स्थानों पर प्रदर्शनी, म्युज़ियम होने से नाम होता है। बाबा ने कहा था सबसे ओपीनियन लिखाओ, वह भी छपानी चाहिए। बच्चों को बहुत सर्विस करनी है। इसमें जाँच भी बहुत करनी है, समझने वाले हैं या नहीं। यह है नई दुनिया, यह है पुरानी दुनिया। यह तो कोई भी समझ सकते हैं सिर्फ टाइम लम्बा कर दिया है, इसलिए मनुष्य मूँझ पड़े हैं। पहले-पहले बाप का परिचय देना है। जो देही-अभिमानी होकर रहते हैं, अतीन्द्रिय सुख उनको ही रह सकता है। सिर्फ भाषण से काम नहीं होगा। जब भाषण करते हो तो भी समझना है कि मैं आत्मा भाई, भाई को समझाता हूँ। आत्म-अभिमानी बनना – इसमें बड़ी मेहनत चाहिए परन्तु बच्चे घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। बाप ही आकर बच्चों को समझाते हैं, गायन भी है आत्मा परमात्मा अलग रहे.. इसका अर्थ भी तुम ही जान सकते हो। जो महारथी हैं उनको अपने को आत्मा समझ बाप को याद करने की बहुत प्रैक्टिस करनी है, तब तो अपने को पावरफुल समझेंगे। जो अपने को आत्मा ही नहीं समझते वह क्या धारणा करेंगे। याद से ही तुम्हारे में जौहर भरेगा। ज्ञान को बल नहीं कहा जाता है। योगबल कहा जाता है। योगबल से ही तुम विश्व के मालिक बनते हो। अब तुमको बहुतों को आप समान बनाना है। जब तक बहुतों को आप समान नहीं बनाया है तब तक विनाश हो न सके। भल बड़ी लड़ाई लग जाए परन्तु फिर बन्द होती रहती है। अभी तो बहुतों के पास बाम्बस हैं, परन्तु यह रखने की चीज़ नहीं है। पुरानी दुनिया का विनाश और एक आदि सनातन धर्म की स्थापना होनी है जरूर। थोड़े समय के बाद सब कहेंगे बरोबर यह वही महाभारी लड़ाई है। भगवान भी है जरूर। जब तुम्हारे पास बहुत लोग आयेंगे तब सब मानने लगेंगे, कहेंगे यह तो वृद्धि को पाते रहते हैं, इनमें बहुत माइट है। तुम जितना याद में रहेंगे उतनी तुम्हारे में ताकत भरेगी। बाप की याद से ही तुम औरों को लाइट देते हो। यह दादा (ब्रह्मा) भी कहते हैं मेरे से भी यह बच्चे बहुत अच्छी सर्विस करते हैं। अभी थोड़ी देरी है, योग में यथार्थ रीति कोई रह नहीं सकता। खुद भी फील करते हैं कि योग में हम कम हैं इसलिए बराबर तीर नहीं लगता है। भगवान कुमारियों में ज्ञान बाण भरते हैं। तुम प्रजापिता ब्रह्माकुमार, ब्रह्माकुमारियाँ हो ना। यह है ब्रह्मा। तुम हो एडाप्टेड बच्चे। क्रियेटर तो एक ही है, बाकी सब पढ़ रहे हैं। उसमें यह ब्रह्मा भी आ गया। फिर यह रचना हो गई ना। तुम देवता बनने वाले हो। दैवी गुण धारण कर रहे हो। कहाँ-कहाँ दोनों पहिये चल नहीं सकते। जैसेकि रेती पर खड़े हैं। बाबा नाम नहीं लेते हैं। नहीं तो समझना चाहिए बाबा सच कहते हैं। बच्चे भी एक दो के स्वभाव को जान सकते हैं, जिनका आपस में काम रहता है।

बच्चे समझते हैं हम ही सिरताज थे। अब फिर बनते हैं। पहले तुम किसको समझाते हो तो मानने लिए तैयार नहीं होते। फिर धीरे-धीरे समझते हैं, इसमें बुद्धि बहुत चाहिए। आत्मा में बुद्धि है। आत्मा सत् चित, आनंद स्वरूप है। अब तुम बच्चों को देही-अभिमानी बनाया जाता है। जब तक बाप न आये तब तक कोई देही-अभिमानी बन न सके। अब बाप कहते हैं आत्म-अभिमानी भव। मामेकम् याद करो तो मेरे से शक्ति मिलेगी। यह धर्म बहुत ताकत वाला है। सारे विश्व पर राज्य करते हैं, कम बात है क्या? तुमको ताकत मिलती है – बाप के साथ योग लगाने से। यह है नई बात, जो अच्छी रीति समझाना पड़ता है। आत्माओं का बेहद का बाप वही है। वही नई दुनिया का रचयिता है। तो शिव का आक्यूपेशन समझाओ कि वह आकर क्या करते हैं। कृष्ण जयन्ती और शिव जयन्ती दोनों की मनाते हैं। अब दोनों में बड़ा कौन? ऊंच ते ऊंच निराकार। उसने क्या किया जो शिव जयन्ती मनाई जाती है, कृष्ण ने क्या किया? लिखा हुआ है कि परमपिता परमात्मा साधारण बूढ़े तन में आकर स्थापना करते हैं। अनेक प्रकार के मत मतान्तर हैं। श्रीमत तो एक ही है, जिससे तुम श्रेष्ठ बनते हो। मानव मत से श्रेष्ठ कैसे बनेंगे। यह ईश्वरीय मत जो तुमको एक ही बार संगम पर मिलती है। देवतायें तो मत देते नहीं। मनुष्य से देवता बन गये बस, खलास। वहाँ गुरू आदि भी नहीं करते। यहाँ मनुष्य मत लेते हैं गुरू की। तो युक्ति से समझाना है हम हैं राजयोगी। हठयोगी कभी राजयोग सिखला न सकें। वे हैं ही निवृत्ति मार्ग वाले। तीर्थों पर प्रवृत्ति मार्ग वालों को ही जाना है।

तुम बच्चों को कोई भी बात में मूँझना नहीं है। यह ड्रामा बना बनाया है जो रिपीट होता रहता है। तुम्हारी सर्विस भी कल्प पहले मिसल होती है। ड्रामा ही तुमको पुरुषार्थ कराते हैं। वह भी तुम करते हो कल्प पहले मिसल। पुरुषार्थ वालों की चलन से तुम समझ सकते हो, तब तो प्रदर्शनी में ग्रुप देखकर गाइड दिया जाता है ताकि अच्छी रीति समझा सके। पढ़ाने वाला बाप तो अच्छी रीति जानते हैं। कितनी विशाल बेहद की बुद्धि बनाते हैं। तुमको नशा रहना चाहिए कि हम किसके बच्चे हैं। भगवान हमको पढ़ाते हैं। कोई नहीं पढ़ सकते तो भाग जाते हैं। भगवान भी समझते हैं यह हमारा बच्चा नहीं है। तुम देखते हो भगवान के बच्चे पढ़ते थे फिर भाग गये फिर कुछ समझ में आ जाता है तो फिर भी पढ़ने लग जाते हैं। फिर योग में अच्छी रीति रहें तो ऊंच पद पा सकते हैं। समझेंगे बरोबर हमने टाइम बहुत वेस्ट किया जो ऐसा स्कूल छोड़ दिया। अब तो जरूर बाप से वर्सा लेंगे। बाप को याद करते-करते अथवा बाबा-बाबा कह रोमांच खड़े हो जाने चाहिए। बाबा हमको ऊंच पद प्राप्त कराते हैं। हम कितने भाग्यशाली हैं। घड़ी-घड़ी बाबा की याद रहे, डायरेक्शन पर चलता रहे तो बहुत उन्नति हो सकती है। फिर उनको सभी बहुत रिगॉर्ड देंगे। बाबा कहते – पढ़े आगे अनपढ़े भरी ढोयेंगे। देह-अभिमान वाले को दैवी गुणों की धारणा हो न सके। तुम्हारा चेहरा फर्स्टक्लास होना चाहिए। कहते हैं अतीन्द्रिय सुख उन्हों से पूछो जिन्हों को भगवान पढ़ाते हैं। कितना पढ़ाई पर अटेन्शन देना चाहिए और श्रीमत पर चलना चाहिए। तुम्हारे योग की ताकत से विश्व भी पवित्र बन जाता है। तुम योग से विश्व को पवित्र बनाते हो। कमाल है। गोवरधन पहाड़ को अंगुली पर उठाना है। इस छी-छी दुनिया को जिन्होंने पवित्र बनाया – यह उनकी निशानी है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सत्य ज्ञान को बुद्धि में धारण करने के लिए बुद्धि रूपी बर्तन को स़ाफ स्वच्छ बनाना है। व्यर्थ बातों को बुद्धि से निकाल देना है।

2) दैवी गुणों की धारणा और पढ़ाई पर पूरा अटेन्शन दे अतीन्द्रिय सुख का अनुभव करना है। सदा इसी नशे में रहना है कि हम भगवान के बच्चे हैं, वही हमको पढ़ाते हैं।

वरदान:- प्राप्ति स्वरूप बन क्यों, क्या के प्रश्नों से पार रहने वाले सदा प्रसन्नचित भव
जो प्राप्ति स्वरूप सम्पन्न आत्मायें हैं उन्हें कभी भी किसी भी बात में प्रश्न नहीं होगा। उसके चेहरे और चलन में प्रसन्नता की पर्सनैलिटी दिखाई देगी, इसको ही सन्तुष्टता कहते हैं। प्रसन्नता अगर कम होती है तो उसका कारण है प्राप्ति कम और प्राप्ति कम का कारण है कोई न कोई इच्छा। बहुत सूक्ष्म इच्छायें अप्राप्ति के तरफ खींच लेती हैं, इसलिए अल्पकाल की इच्छाओं को छोड़ प्राप्ति स्वरूप बनो तो सदा प्रसन्नचित रहेंगे।
स्लोगन:- परमात्म प्यार में लवलीन रहो तो माया की आकर्षण समाप्त हो जायेगी।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

जैसे ब्रह्मा बाप को चलता-फिरता फरिश्ता, देहभान रहित अनुभव किया। कर्म करते, बातचीत करते, डायरेक्शन देते, उमंग-उत्साह बढ़ाते भी देह से न्यारा, सूक्ष्म प्रकाश रूप की अनुभूति कराई, ऐसे फॉलो फादर करो। सदा देह-भान से न्यारे रहो, हर एक को न्यारा रूप दिखाई दे, इसको कहा जाता है देह में रहते फरिश्ता स्थिति।

TODAY MURLI 9 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 9 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 8 January 2018 :- Click Here

09/01/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have come to this study place to make your fortune elevated. You have to study with the incorporeal Father and become kings of kings.
Question: How do some fortunate children become unfortunate?
Answer: The children who have no karmic bondages are fortunate, that is, they are free from karmic bondages. However, if they then don’t pay attention to studying and their intellects wander here and there, if they don’t remember the one Father from whom they receive such a big inheritance, then, even though they are fortunate, they would be called unfortunate.
Question: Shrimat is filled with which sweetness?
Answer: It is only shrimat that includes the directions of the Mother, the Father, the Teacher and the Guru. Shrimat is like a saccharine which contains all the sweetness of these.
Song: I have come having awakened my fortune.

Om shanti. God Shiva speaks. When people relate the Gita, they do so using Krishna’s name. Here, the One who is speaking it says: God Shiva speaks. He Himself can say “God Shiva speaks” because Shiv Baba Himself is speaking. The two together can also say this. You children belong to both. Both sons and daughters are sitting here. Therefore, He says: Children, do you understand who is teaching you? You would say that BapDada is teaching you. The senior One is called the Father and the younger one is called Dada, that is, the brother is called Dada. So, Bap and Dada together are BapDada. You children know that you are also studentsStudents sit in a school to make their fortune, to study and pass such-and-such an examination. There are many of those physical examinations. Here, it is in the hearts of you children that the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching you. You don’t call this one (Brahma) the Father. The incorporeal Father is explaining to you. You know that we will study Raja Yoga with the Father and become kings of kings. There are kings and there are also kings of kings. Those who are the kings of kings are worshipped by kings. This system only continues in the land of Bharat. Impure kings worship pure kings (idols). The Father has explained that those who have large properties are called emperors (Maharajas). Kings are junior. Nowadays, some kings have more property than maharajas. Some wealthy people have even more property than kings. There, it isn’t unlawful ; everything there is according to the law. The great emperors would have large properties. You children know that the unlimited Father is sitting here and teaching you. No one, apart from Supreme Soul, can make you into kings of kings, masters of heaven. The Creator of heaven is the incorporeal Father. His name is remembered as Heavenly God, the Father. The Father clearly explains: It is I who once again am giving you children the self-sovereignty and making you into kings of kings. You know that having awakened your fortune you have now come to the unlimited Father to become kings of kings. This is a matter of so much happiness. It is a very important examination. Baba says: Follow shrimat! This includes the directions of the Mother, Father, Teacher and Guru etc. This is the saccharine of all of them. The One is filled with the sweetness of them all. The Beloved of all is One. It is the Father who makes impure ones pure. Guru Nanak also praised that One, so you definitely have to remember Him. First of all, He will take you to where He resides and then He will send you to the pure world. Explain to anyone who comes that this is a Godly college. God speaks. In other schools, they wouldn’t say: God speaks. God is the Incorporeal, the Ocean of Knowledge, the Seed of the human world tree. I sit here and teach you children. This is Godly knowledge. Saraswati is called the goddess of knowledge. So, they definitely become godsand goddesses through Godly knowledge. Through the education of ‘barristry , you would become a barrister. This is Godly knowledgeGod has given knowledge to Saraswati. So, just as Saraswati is the goddess of knowledge, so too are you children. Saraswati has many children, but it is not possible for each one to be called a goddess of knowledge. You cannot call yourselves goddesses at this time. There, you are called deities. God really does give you knowledge. He makes you imbibe these lessons. That One gives you a high status, but deities cannot be gods and goddesses. This mother and father are like a god and goddess, but they are not that. The incorporeal Father is called God, the Father. This corporeal one would not be called God. These are very deep matters. The form and the relationship of souls with the Supreme Soul is such a deep matter. All of those physical relationships of maternal and paternal uncles are common. This is a spiritual relationship. You need great methods to explain. They sing of the Mother and Father, and so that definitely has a meaning. Those words become imperishable. They also continue on the path of devotion. You children know that you are sitting in a school. The One who is teaching you is the Ocean of Knowledge. This one’s soul is also studying. The Father of this soul is God, the Father, who is the Father of all and who is teaching us. He doesn’t have to enter a womb, so how would He teach you knowledge? He enters the body of Brahma. Those people have then put Krishna’s name instead of Brahma’s. This too is fixed in the drama. It is only when a mistake is made that the Father can come and correct that mistake and make you free from making mistakes. Because of not knowing the incorporeal One, people have become confused. The Father explains: I am your unlimited Father who gives you your unlimited inheritance. How did Lakshmi and Narayan become the masters of heaven? No one knows this. Someone must definitely have taught them how to perform such actions and that One must definitely be senior for Him to enable them to claim a high status. People don’t know anything at all. The Father explains to you with so much love. He is such a great Authority. He is the Master who purifies the whole world. He explains: This drama is predestined. You have to go around the cycle. No one knows this drama. How we are actors in the drama, how this cycle turns, who changes the land of sorrow into the land of happiness; only you know this. I teach you for the land of happiness. You alone become constantly happy for 21 births. No one else can go there. There must definitely be few people in the land of happiness. Very good points need to be explained. You say: Baba, I belong to You. However, it does take time to belong to Him completely. Some are quickly freed from their karmic bondages, whereas it takes time for others. Some are so fortunate that their karmic bondages are already broken but because they don’t pay attention to studying, they are called unfortunate ones. Their intellects go to their children, their grandchildren etc. Here, you have to remember the One alone. You are to receive a very big inheritance. You know that you are becoming kings of kings. The Father sits here and explains how impure kings are created and how the pure kings of kings are created. I Myself come and make you into kings of kings, masters of heaven, through this Raja Yoga. Those impure kings become that by making donations. I do not come to create them. They are great donors. By donating, they take birth in a royal family. I give you happiness for 21 births. They become that for one birth but, nevertheless, they remain impure and unhappy. I come and make you children pure. People think that they can become pure just by bathing in the Ganges; they stumble around so much! They praise the Ganges and the Jamuna so much! Here, there is no need to praise anyone. The water comes from the ocean. There are many such rivers. Abroad, too, they make many canals by digging them. What is the big deal about that? They don’t know who the Ocean of Knowledge is or who the Ganges of knowledge are. They don’t know anything about what the Shaktis did. In fact, this Jagadamba is a Ganges of knowledge, the Saraswati of knowledge. People don’t know anything. They are like those who are uneducated; they are completely senseless buddhus. The Father comes and makes those who are senseless very sensible. You can tell those people who it was who made them into kings of kings. It is also mentioned in the Gita: I alone make you into a king of kings. People don’t know this at all. We ourselves didn’t know this. Even the one who became that and is no longer that didn’t know, so how could others know? There is no meaning to the notion of omnipresence. Whom do you have yoga with? Whom would you call out to? If you yourself are God, whom would you pray to? It is a great wonder ! There is respect for those who do a lot of devotion; there is also a rosary of devotees. The rosary of Rudra is the rosary of knowledge; that is then the rosary of devotees. That is the incorporeal rosary. All souls reside there. Out of those, which souls are the first to claim number one? The souls of Saraswati and Brahma claim number one. These are matters of the soul. On the path of devotion, everything is about the physical: such-and-such a devotee was like this. They would mention the name of the body. You would not say this of human beings. You know who the Brahma soul becomes. He will adopt a body and become a king of kings. The soul enters a body and rules the kingdom. He is not a king now. It is the soul that rules. I am a king. I am a soul. I am a master of this body. I, the soul, adopt a body named Shri Narayan and then I rule. It is the soul that listens and imbibes it. The sanskars remain in the soul. You know that we are claiming our kingdom from the Father by following shrimat. Both Bap and Dada together say: Children. Both have a right to say: Children. They say to souls: Incorporeal children. Incorporeal children, remember Me, the Father! No one else can say: O incorporeal children, o souls, remember Me, the Father! It is the Father who speaks to you souls. He doesn’t say: God, remember Me, God. He says: O souls, remember Me, your Father, and your sins will be absolved through this fire of yoga. No sinful soul can become a charitable soul by bathing in the Ganges. They bathe in the Ganges, go back home and then commit sin. It is because of these vices that they become sinful souls. No one understands this. The Father explains: You now have the severe omens of Rahu over you. At first, the omens are very light. Now, make a donation and the omens can be removed. The attainment is very great. So you should also make that much effort. The Father says: I alone will make you into the kings of kings. Therefore, remember Me and the inheritance. Remember your 84 births. This is why Baba has given you children the name, ‘Spinners of the discus of self-realisation’. So, you also need to have the knowledge of self-realisation. The Father explains: This old world is to be destroyed. I am to take you to the new world. Sannyasis simply forget their homes and families whereas you forget the whole world. Only the Father says: Become bodiless! I am to take you to the new world, so break your attachment to the old world and old bodies. Then, in the new world you will receive new bodies. Look, Krishna is called Shyam-Sundar. He was beautiful in the golden age whereas now, in the last birth, he has become ugly. So, it would be said that the one who has become ugly becomes beautiful and that he then becomes ugly again. This is why they have given him the name Shyam-Sundar. It is the five vices, Ravan, that make you ugly and then the Supreme Father, the Supreme Soul, makes you beautiful. It is also shown in the picture that I am kicking the old world away and becoming beautiful. Beautiful souls become the masters of the world. Ugly souls become the masters of hell. It is the soul that becomes ugly and beautiful. The Father says: You now have to become pure. Those hatha yogis use a lot of force to become pure. However, you cannot become pure without having yoga. Or, you cannot become pure without experiencing punishment. Therefore, why should you not remember the Father? You also have to conquer the five vices. The Father says: That vice of lust makes you experience sorrow from its beginning through the middle to the end. Those who can’t conquer the vices cannot become kings of Paradise. This is why the Father says: Look! In the form of the Father, the Teacher and the Satguru, I am teaching you such good actions. I inspire you to have your sins absolved with the power of yoga and make you into the kings who are conquerors of sinful action. In fact, it is the deities of the golden age who are called the kings who are conquerors of sinful action. There are no sinful actions there. The era of the conquerors of sin is separate from the era of those who perform sin. The king who conquered sinful actions existed in the past and there was also the king who performed sinful actions who has been and gone. We are now conquering sins. Then, sins will begin to be committed anew in the copper age. So, they have given the name ‘King Vikram’ (one who performed sinful actions). Deities are conquerors of sinful actions. We are now becoming that, and then, when we go on to the path of sin, the account of sin will begin. We settle the accounts of sin here and we then become conquerors of sin. There are no sinful actions performed there. Therefore, children, you should have the intoxication that we are making our fortune elevated here. This is the study place for making the greatest fortune. There is no question of making a fortune in spiritual gathering. It is always in a study place that a fortune is created. You know that we will change from an ordinary man into Narayan, that is, we will become the kings of kings. Truly, the impure kings worship the pure kings. I alone make you pure. You will not rule in the impure world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost-and-now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become free from the omens of Rahu by keeping the knowledge of the discus of self-realisation in your intellect. Settle the accounts of sin with elevated actions and the power of yoga and become a conqueror of sinful actions.
  2. In order to make your fortune elevated, pay full attention to studying.
Blessing: May you have a right to blessings and making progress by keeping a balance of making spiritual endeavour (sadhana) and using the facilities (sadhan).
Instead of making the facilities your support, use the facilities on the basis of your spiritual endeavour. Do not make any of the facilities the basis for your progress. Otherwise, when the facilities fluctuate, your zeal and enthusiasm will also fluctuate. Because of your making the facilities your support, the Father is removed from being in-between and this is why there is fluctuation. Together with the facilities, let there also be spiritual endeavour and you will experience the Father’s blessings in every task and your zeal and enthusiasm will not decrease.
Slogan: In order to become free from the spinning of “ifs” and “buts”, become powerful like the Father.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 9 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 January 2017

To Read Murli 8 January 2018 :- Click Here
09/01/18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम इस पाठशाला में आये हो अपनी ऊंची तकदीर बनाने, तुम्हें निराकार बाप से पढ़कर राजाओं का राजा बनना है”
प्रश्नः- कई बच्चे हैं भाग्यशाली लेकिन बन जाते हैं दुर्भाग्यशाली कैसे?
उत्तर:- वह बच्चे भाग्यशाली हैं – जिन्हें कोई भी कर्मबन्धन नहीं है अर्थात् कर्म बन्धनमुक्त हैं। परन्तु फिर भी यदि पढ़ाई में अटेन्शन नहीं देते, बुद्धि इधर उधर भटकती रहती है, एक बाप जिससे इतना भारी वर्सा मिलता, उसे याद नहीं करते हैं तो भाग्यशाली होते भी दुर्भाग्यशाली ही कहेंगे।
प्रश्नः- श्रीमत में कौन-कौन से रस भरे हुए हैं?
उत्तर:- श्रीमत ही है – जिसमें मात-पिता, टीचर, गुरू सबकी मत इकट्ठी है। श्रीमत जैसे सैक्रीन है, जिसमें यह सब रस भरे हुए हैं।
गीत:- तकदीर जगाकर आई हूँ..

ओम् शान्ति। शिव भगवानुवाच, मनुष्य जब गीता सुनाते हैं तो कृष्ण का नाम लेकर सुनाते हैं। यहाँ तो जो सुनाते हैं कहते हैं शिव भगवानुवाच। खुद भी कह सकते हैं शिव भगवानुवाच, क्योंकि शिवबाबा स्वयं ही बोलते हैं। दोनों इक्ट्ठे भी बोल सकते हैं। बच्चे तो दोनों के हैं। बच्चे और बच्चियां दोनों बैठे हुए हैं। तो कहते हैं बच्चे समझते हो कि कौन पढ़ाते हैं? कहेंगे बापदादा पढ़ाते हैं। बाप बड़े को, दादा छोटे को अर्थात् भाई को कहा जाता है। तो बापदादा इक्ट्ठा कहा जाता है। अब बच्चे भी जानते हैं कि हम स्टूडेन्ट हैं, स्कूल में स्टूडेन्ट बैठे ही हैं तकदीर बनाने के लिए कि हम पढ़कर फलाना इम्तहान पास करेंगे। वह जिस्मानी इम्तहान तो बहुत होते हैं। यहाँ तुम बच्चों की दिल में है कि हमको बेहद का बाप परमपिता परमात्मा पढ़ाते हैं। बाप इस (ब्रह्मा) को नहीं कहते हो। निराकार बाप समझाते हैं, तुम जानते हो हम बाप से राजयोग सीख राजाओं का राजा बनते हैं। राजायें भी होते हैं और फिर राजाओं के राजायें भी होते हैं। जो राजाओं के राजायें हैं, उन्हों को राजायें भी पूजते हैं। यह रिवाज भारत खण्ड में ही है। पतित राजायें पावन राजाओं को पूजते हैं। बाप ने समझाया है महाराजा बड़ी प्रापर्टी वाले को कहा जाता है। राजे लोग छोटे होते हैं। आजकल तो कोई-कोई राजाओं की महाराजाओं से भी जास्ती प्रापर्टी होती है। कोई-कोई साहूकारों को राजाओं से भी जास्ती प्रापर्टी होती है। वहाँ ऐसे अनलाफुल नहीं होता। वहाँ तो सब कुछ कायदे अनुसार होगा। बड़े महाराजा पास बड़ी प्रापर्टी होगी। तो तुम बच्चे जानते हो हमको बेहद का बाप बैठ पढ़ाते हैं। परमात्मा बिगर राजाओं का राजा, स्वर्ग का मालिक कोई बना नहीं सकता। स्वर्ग का रचयिता है ही निराकार बाप। उनका नाम भी गाते हैं हेविनली गॉड फादर। बाप साफ समझाते हैं मैं तुम बच्चों को फिर से स्वराज्य देकर राजाओं का राजा बनाता हूँ। अब तुम जानते हो हम तकदीर बनाकर आये हैं, बेहद के बाप से राजाओं का राजा बनने। कितनी खुशी की बात है। बड़ा भारी इम्तहान है। बाबा कहते हैं श्रीमत पर चलो, इसमें मात-पिता, टीचर, गुरू आदि सबकी मत इकट्ठी है। सबकी सैक्रीन बनी हुई है। सभी का रस एक में भरा हुआ है। सबका साजन एक है। पतित से पावन बनाने वाला वह बाप ठहरा। गुरूनानक ने भी उनकी महिमा की है तो जरूर उनको याद करना पड़े। पहले वह अपने पास ले जायेगा फिर पावन दुनिया में भेज देगा। कोई भी आये तो उनको समझाना है – यह गॉडली कालेज है। भगवानुवाच, और स्कूलों में तो कभी भगवानुवाच नहीं कहेंगे। भगवान है ही निराकार ज्ञान का सागर, मनुष्य सृष्टि का बीजरूप.. तुम बच्चों को बैठ पढ़ाता हूँ। यह गॉडली नॉलेज है। सरस्वती को गॉडेज़ आफ नॉलेज कहते हैं। तो जरूर गाडली नॉलेज से गॉड-गाडेज ही बनते होंगे। बैरिस्टरी नॉलेज से बैरिस्टर ही बनेंगे। यह है गाडली नॉलेज। सरस्वती को गाड ने नॉलेज दी है। तो जैसे सरस्वती गॉडेज आफ नॉलेज है, वैसे तुम बच्चे हो। सरस्वती को बहुत बच्चे हैं ना। परन्तु हर एक गॉडेज आफ नॉलेज कहलाये जायें, यह नहीं हो सकता। इस समय अपने को गॉडेज नहीं कह सकते। वहाँ भी तो देवी-देवतायें ही कहेंगे। गॉड नॉलेज बरोबर देते हैं। लेसन ऐसे धारण कराते हैं। यह मर्तबा देते हैं बड़ा। बाकी देवतायें गॉड गाडेज तो हो नहीं सकते। यह मात-पिता तो जैसे कि गॉड गाडेज हो जाते। परन्तु हैं तो नहीं ना। निराकार बाप को गाड फादर कहेंगे। इन (साकार) को गॉड थोड़ेही कहेंगे। यह बड़ी गुह्य बातें हैं। आत्मा और परमात्मा का रूप और फिर सम्बन्ध कितनी गुह्य बातें हैं। वह जिस्मानी सम्बन्ध काका, चाचा, मामा आदि तो कामन हैं। यह तो है रूहानी सम्बन्ध। समझाने की बड़ी युक्ति चाहिए। मात-पिता अक्षर गाते हैं तो जरूर कोई अर्थ है ना। वह अक्षर अविनाशी बन जाता है। भक्तिमार्ग में भी चला आता है।

तुम बच्चे जानते हो हम स्कूल में बैठे हैं। पढ़ाने वाला ज्ञान सागर है। इनकी आत्मा भी पढ़ती है। इस आत्मा का बाप वह परमात्मा है, जो सभी का बाप है, वह पढ़ाते हैं। उनको गर्भ में तो आना नहीं है, तो नॉलेज कैसे पढ़ायें। वह आते हैं ब्रह्मा के तन में। उन्होंने फिर ब्रह्मा के बदले कृष्ण का नाम डाल दिया है। यह भी ड्रामा में हैं। कुछ भूल हो तब तो बाप आकर इस भूल को करेक्ट कर अभुल बनाये। निराकार को न जानने कारण ही मूँझ गये हैं। बाप समझाते हैं मैं तुम्हारा बेहद का बाप बेहद का वर्सा देने वाला हूँ। लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग के मालिक कैसे बने, यह कोई भी नहीं जानते। जरूर कोई ने तो कर्म सिखाये होंगे ना और वह भी जरूर बड़ा होगा, जो इतना ऊंच पद प्राप्त कराया। मनुष्य कुछ भी नहीं जानते। बाप कितना प्यार से समझाते हैं, कितनी बड़ी अथॉरिटी है। सारी दुनिया को पतित से पावन बनाने वाला मालिक है। समझाते हैं यह बना-बनाया ड्रामा है। तुमको चक्र लगाना होता है। इस बनावट को कोई भी जानते नहीं। ड्रामा में कैसे हम एक्टर्स हैं, यह चक्र कैसे फिरता है, दु:खधाम से सुखधाम कौन बनाते हैं, यह तुम जानते हो। तुमको सुखधाम के लिए पढ़ाता हूँ। तुम ही 21 जन्मों के लिए सदा सुखी बनते हो और कोई वहाँ जा न सके। सुखधाम में जरूर थोड़े मनुष्य होंगे। समझाने लिए प्वाइंटस बहुत अच्छी चाहिए। कहते तो हैं बाबा हम आपके हैं, परन्तु पूरा बनने में टाइम लगता है। कोई का कर्मबन्धन झट छूट जाता है, कोई को टाइम लगता है। कई तो ऐसे भाग्यशाली भी हैं जिनका कर्मबन्धन टूटा हुआ है, परन्तु पढ़ाई में अटेन्शन नहीं देते हैं तो उनको कहा जाता है दुर्भाग्यशाली। पुत्र, पोत्रे, धोत्रे आदि में बुद्धि चली जाती है। यहाँ तो एक को ही याद करना है। बहुत भारी वर्सा मिलता है। तुम जानते हो हम राजाओं के राजा बनते हैं। पतित राजायें कैसे बनते हैं और पावन राजाओं के राजा कैसे बनते हैं, वह भी बाप तुमको समझाते हैं। मैं स्वयं आकर राजाओं का राजा स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ – इस राजयोग से। वह पतित राजायें तो दान करने से बनते हैं। उन्हों को मैं थोड़ेही आकर बनाता हूँ। वह बहुत दानी होते हैं। दान करने से राजाई कुल में जन्म लेते हैं। मैं तो 21 जन्मों के लिए तुमको सुख देता हूँ। वह तो एक जन्म के लिए बनते सो भी पतित दु:खी रहते हैं। मैं तो आकर बच्चों को पावन बनाता हूँ। मनुष्य समझते हैं सिर्फ गंगा स्नान करने से पावन बनते हैं, कितने धक्के खाते हैं। गंगा जमुना आदि की कितनी महिमा करते हैं। अब इसमें महिमा की तो बात ही नहीं। पानी सागर से आता है। ऐसे तो बहुत नदियां हैं। विलायत में भी बड़ी-बड़ी नदियां खोदकर बनाते हैं, इसमें क्या बड़ी बात है। ज्ञान सागर और ज्ञान गंगायें कौन हैं, यह तो जानते ही नहीं। शक्तियों ने क्या किया, कुछ भी जानते नहीं। वास्तव में ज्ञान गंगा अथवा ज्ञान सरस्वती यह जगदम्बा है। मनुष्य तो जानते ही नहीं, जैसे भील हैं। बिल्कुल ही बुद्धू, बेसमझ हैं। बाप आकर बेसमझ को कितना समझदार बनाते हैं। तुम बता सकते हो इन्हों को राजाओं का राजा किसने बनाया। गीता में भी है मैं राजाओं का राजा बनाता हूँ। मनुष्य तो यह जानते नहीं। हम खुद भी नहीं जानते थे। यह जो खुद बना था, अब नहीं है, वही नहीं जानता तो और फिर कैसे जान सकते। सर्वव्यापी के ज्ञान में कुछ भी है नहीं, योग किसके साथ लगायें, पुकारे किसको? खुद ही खुदा हैं फिर प्रार्थना किसकी करेंगे! बड़ा वन्डर है। बहुत भक्ति जो करते हैं उनका मान होता है। भक्त माला भी है ना। ज्ञान माला है रूद्र माला। यह फिर भक्त माला। वह है निराकारी माला। सभी आत्मायें वहाँ रहती हैं। उनमें भी पहला नम्बर आत्मा किसकी है? जो नम्बरवन में जाते हैं, सरस्वती की आत्मा वा ब्रह्मा की आत्मा नम्बरवन पढ़ती है। यह आत्मा की बात है। भक्ति मार्ग में तो सब जिस्मानी बातें हैं – फलाना भक्त ऐसा था, उनके शरीर का नाम लेंगे। तुम मनुष्य को नहीं कहेंगे। तुम जानते हो ब्रह्मा की आत्मा क्या बनती है। वह जाकर शरीर धारण कर राजाओं का राजा बनते हैं। आत्मा शरीर में प्रवेश कर राज्य करती है। अभी तो राजा नहीं है। राज्य करती तो आत्मा है ना। मैं राजा हूँ, मैं आत्मा हूँ, इस शरीर का मालिक हूँ। अहम् आत्मा शरीर का नाम श्री नारायण धराए फिर राज्य करेंगे। आत्मा ही सुनती और धारण करती है। आत्मा में संस्कार रहते हैं। अब तुम जानते हो हम बाप से राजाई लेते हैं श्रीमत पर चलने से। बापदादा दोनों मिलकर कहते हैं बच्चे, दोनों को बच्चे कहने का हक है। आत्मा को कहते हैं निराकारी बच्चे, मुझ बाप को याद करो। और कोई कह न सके कि हे निराकारी बच्चे, हे आत्मायें मुझ बाप को याद करो। बाप ही आत्माओं से बात करते हैं। ऐसे तो नहीं कहते हे परमात्मा मुझ परमात्मा को याद करो। कहते हैं, हे आत्मायें मुझ बाप को याद करो तो इस योग अग्नि से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। बाकी गंगा स्नान से कभी कोई पाप आत्मा से पुण्य आत्मा नहीं बन सकते। गंगा स्नान कर फिर घर में आकर पाप करते हैं। इन विकारों के कारण ही पाप आत्मा बनते हैं। यह कोई समझते नहीं। बाप समझाते हैं कि अब तुमको राहू का कड़ा ग्रहण लगा हुआ है। पहले हल्का ग्रहण होता है। अब दे दान तो छूटे ग्रहण। प्राप्ति बहुत भारी है। तो पुरुषार्थ भी ऐसे करना चाहिए ना। बाप कहते हैं मैं तुमको राजाओं का राजा बनाऊंगा इसलिए मुझे और वर्से को याद करो। अपने 84 जन्मों को याद करो इसलिए बाबा ने नाम ही रखा है ”स्वदर्शन चक्रधारी बच्चे।” तो स्वदर्शन का ज्ञान भी चाहिए ना।

बाप समझाते हैं – यह पुरानी दुनिया खत्म होनी है। तुमको मैं नई दुनिया में ले चलता हूँ। सन्यासी सिर्फ घरबार को भूलते हैं, तुम सारी दुनिया को भूलते हो। यह बाप ही कहते हैं कि अशरीरी बनो। मैं तुमको नई दुनिया में ले चलता हूँ इसलिए पुरानी दुनिया से, पुराने शरीर से ममत्व तोड़ो। फिर नई दुनिया में तुमको नया शरीर मिलेगा। देखो, कृष्ण को श्याम-सुन्दर कहते हैं। सतयुग में वह गोरा था अब अन्तिम जन्म में काला हो गया है। तो कहेंगे ना श्याम ही सुन्दर बनता है, फिर सुन्दर से श्याम बनता है। तो नाम रख दिया है श्याम सुन्दर। काला बनाते हैं 5 विकार रावण और फिर गोरा बनाते हैं परमपिता परमात्मा। चित्र में भी दिखाया है कि मैं पुरानी दुनिया को लात मार गोरा बन रहा हूँ। गोरी आत्मा स्वर्ग की मालिक बनती है। काली आत्मा नर्क की मालिक बनती है। आत्मा ही गोरी और काली बनती है। अब बाप कहते हैं तुमको पवित्र बनना है। वह हठयोगी पवित्र बनने के लिए बहुत हठ करते हैं। परन्तु योग बिगर तो पवित्र बन न सके, या तो सजायें खाकर पवित्र बनना पड़े इसलिए बाप को क्यों न याद करें और 5 विकारों को भी जीतना है। बाप कहते हैं यह काम विकार ही आदि-मध्य-अन्त दु:ख देने वाला है। जो विकारों को नहीं जीत सकते वह वैकुण्ठ के राजा थोड़ेही बन सकते हैं इसलिए बाप कहते हैं देखो मैं तुमको कितने अच्छे कर्म सिखाता हूँ – बाप, टीचर, सतगुरू रूप में। योगबल से विकर्म विनाश कराए विकर्माजीत राजा बनाता हूँ। वास्तव में सतयुग के देवी-देवताओं को ही विकर्माजीत कहा जाता है। वहाँ विकर्म तो होते नहीं। विकर्माजीत संवत और विक्रम संवत अलग-अलग है। एक राजा विक्रम भी होकर गया है और विकर्माजीत राजा भी हो गया है। हम अभी विकर्मों को जीत रहे हैं। फिर द्वापर से नयेसिर विकर्म शुरू होते हैं। तो नाम रख दिया है राजा विक्रम। देवतायें हैं विकर्माजीत। अभी हम वह बनते हैं फिर जब वाम मार्ग में आते हैं तो विकर्मों का खाता शुरू हो जाता है। यहाँ विकर्मो का खाता चुक्तू कर फिर हम विकर्माजीत बनते हैं। वहाँ कोई विकर्म होते नहीं। तो बच्चों को यह नशा होना चाहिए कि हम यहाँ ऊंच तकदीर बनाते हैं। यह है बड़े ते बड़ी तकदीर बनाने की पाठशाला। सतसंग में तकदीर बनने की बात नहीं रहती। पाठशाला में हमेशा तकदीर बनती है। तुम जानते हो हम नर से नारायण अथवा राजाओं का राजा बनेंगे। बरोबर पतित राजायें, पावन राजाओं को पूजते हैं। मैं तुमको पावन बनाता हूँ। पतित दुनिया में तो राज्य नहीं करेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि में स्वदर्शन चक्र का ज्ञान रख, राहू के ग्रहण से मुक्त होना है। श्रेष्ठ कर्म और योगबल से विकर्मों का खाता चुक्तू कर विकर्माजीत बनना है।

2) अपनी ऊंची तकदीर बनाने के लिए पढ़ाई पर पूरा-पूरा ध्यान देना है।

वरदान:- साधना और साधन के बैलेन्स द्वारा अपनी उन्नति करने वाले ब्लैसिंग के अधिकारी भव 
साधनों को आधार बनाने के बजाए अपनी साधना के आधार से साधनों को कार्य में लगाओ। किसी भी साधन को उन्नति का आधार नहीं बनाओ, नहीं तो आधार हिलने के साथ उमंग-उत्साह भी हिल जाता है क्योंकि साधन को आधार बनाने से बाप बीच से निकल जाता इसलिए हलचल होती है। साधनों के साथ साधना हो तो हर कार्य में बाप की ब्लैसिंग का अनुभव करेंगे, उमंग-उत्साह भी कम नहीं होगा।
स्लोगन:- ”अगर मगर” के चक्कर से न्यारे बनना है तो बाप समान शक्तिशाली बनो।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize