9 august ki murli

TODAY MURLI 9 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 9 August 2020

09/08/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
04/03/86

The foundation of the most elevated creation is love

Today, BapDada is pleased to see His creation of elevated souls. This elevated and new creation is the most elevated and extremely loved creation in the world, because it is the creation of pure souls. Because you are pure souls, you are loved at present by BapDada and you will be loved in your kingdom by everyone. In the copper age, you will become the deity idol souls who are loved by the devotees. At this time you are Brahmin souls who are loved by God, whereas in the golden and silver ages, you will be the supremely elevated deity souls who have a right to the kingdom, and from the copper age, through the iron age up to now, you are worthy-of-worship souls. Out of all three, you are most elevated at this time; you are the supremely loved Brahmins souls who are to become angels. On the basis of your elevated state at this time, you remain elevated throughout the cycle. Even in this last birth you can see how much the devotees are invoking you elevated souls. They are calling out with so much love. Although they know that those are only non-living images, they worship you elevated souls with so much love; they offer you bhog and also perform arti (worshipping with deepaks on a tray). Do you double foreigners feel that they are your images that are being worshipped? The Father’s task was carried out in Bharat and this is why, along with those of the Father, there are images of all of you in Bharat too. They build the maximum number of temples in Bharat. You have the intoxication that you alone are the worthy-of-worship souls, do you not? It was to do service that you dispersed to all four corners of the world. Some have reached America and others have reached Africa, but why did you go there? At this time, you have the sanskars of serving and the sanskars of love. The speciality needed for serving is love. Unless they experience spiritual love with knowledge, they will not listen to knowledge. When all you double foreigners came to belong to the Father, what was the foundation of all of you? Love from the Father, love from the family, love from the heart, altruistic love. It was this that made you into elevated souls. So, the first form of success in service was the form of love. When you belong to the Father out of love, any point of knowledge is then easily clarified. Those who don’t come out of love take time and effort just to imbibe knowledge and make progress. That is because their attitude is caught up a lot more in “What? Why? Like this? Like that?”, whereas when they are lost in love, they find every word of the Father’s to be very loving because of their love. Their questions then end. Because the Father’s love attracts them, even if they ask questions, they are in the form of trying to understand something. You have experienced this, have you not? The ones who are lost in love will only see love in whatever those they love say. Therefore, the main basis of service is love. Even the Father constantly remembers you children with love. He calls you with love and He enables you to cross over all obstacles with love. So, the foundation of this Godly birth, of this Brahmin birth, is love. Those who have the foundation of love will never find anything difficult. Because of love, they will have zeal and enthusiasm. “Whatever the Father’s shrimat is, we have to follow that.” “I will think about it, “I will do it.” are not the qualifications of someone who is loving. “The Father said this for me and I definitely have to do it,” is the stage of loving souls who are in love. Those who are loving will not fluctuate. It will always be: the Father and I – and no third person. Just as the Father is the greatest of all, so loving souls too always have big hearts. Those with small hearts will get confused about small things. Even small things will become big. For those with big hearts, even big things will become small. All of you double foreigners are those with big hearts, are you not? BapDada is pleased to see all the double-foreign children. From so far away, you moths have come here to sacrifice yourselves to the Flame. You are true moths. Today, it is the turn of those from America. To those from America, the Father says: “Aa Meere” (Come, mine). Those from America also say: “Aa meere”. This is a speciality, is it not? In the picture of the tree, from the beginning, they have specially shown America to be powerful. From the time when establishment began, the Father has been remembering those from America. You have special parts, do you not? Just as the power of destruction is elevated, what other speciality does it have? Of course each place has its specialities, but the speciality of America is also that, on the one hand, they have a great deal of preparation for destruction and, on the other hand, there is the United Nations to end destruction.. On the one hand, there is the power of destruction, and on the other hand, the power to unite everyone. So, that is double power, is it not? There, they try to unite everyone, so it will be from there that this sound of a spiritual meeting will be heard loudly. Those people try to attain peace by uniting people in their own way. However, to unite them in the right way is the task of only you people. Those people try to unite everyone, but they are unable to do that. In fact, to bring souls of all religions into one family is the real task of you Brahmins. This is the special thing you must do. Just as the power of destruction is great there, so, let the sound of the power of establishment also be heard loud and clear. Let the flags of both destruction and establishment be hoisted at the same time. One is the flag of science and the other is the flag of silence. When the influence of both the power of science and the power of silence are revealed, it will be said that the flags of revelation can be hoisted. For instance, when a VIP goes to another country, flags are put up everywhere to welcome him. They raise flags of their own country and also the country of the person who has come. So, let them also hoist the flag of God’s revelation. Let them also welcome God’s task. When the Father’s flag is hoisted in every corner, you will then be able to say that the Shaktis, especially, have been revealed. This is the year of the Golden Jubilee, is it not? So everyone should be able to see the golden stars. When those special stars are visible in the sky, everyone’s attention is drawn to them. These golden sparkling stars should also be visible to everyone’s eyes and intellects. This is what it means to celebrate the Golden Jubilee. Where will these stars sparkle first? There is now very good expansion in the lands abroad and there has to be this. The Father’s children who have been hidden away in every corner are now coming into contact, according to the time. Each one is moving forward, and serving with zeal and enthusiasm more than the next . When you have courage, you also receive the Father’s help. Lamps of hope are ignited even in those for whom there was no hope. People of the world think that it is impossible for this to happen, that it is very difficult, but your love freed you from obstacles and brought you here like flying birds. You reached here on a double flight, have you not? One is the aeroplane and the other is the plane of the intellect. When you have wings of courage and enthusiasm, you can fly wherever you want. BapDada always praises the children because of their courage. Because of their courage, one lamp was ignited from another and a rosary was created. Very good fruit emerges for those who make effort with love. This is the speciality of everyone’s co-operation. No matter what the situation is, there first has to be determination and a gathering of love. Through that, success is visible practically. Determination can enable very barren land to bear fruit. Nowadays, scientists are trying to grow fruit even in the deserts. So, what can the power of silence not do? Land that receives the water of love bears very large and tasty fruit. For instance, in heaven, the fruit will be big and tasty. Abroad, they have big fruit, but it is not tasty. The fruit looks very good, but it is not tasty. The fruits of Bharat are small, but they are tasty. The foundation of everything is laid here. The centre that receives the water of love is always very fruitful, in terms of service and in terms of companions. In heaven, there will be pure water and pure soil, and this is why you receive such fruit there. Where there is love, the atmosphere, that is, the land there, is elevated. In any case, when someone is disturbed, what does he or she say? I don’t want anything else, I just want love. So, the only method to save yourself from being disturbed is love. BapDada greatest happiness is that the children who were lost have now come back. If you hadn’t gone there, how could service take place there? This is why there is also benefit in being separated… To meet is in any case beneficial. All of you are moving forward at your own places with zeal and enthusiasm and all of you have the one aim of fulfilling the one hope of BapDada, of making all the orphan children belong to the Father. The programme for peace that all of you made together is also good. Then, at the very least, you will become instruments to make people practise staying in silence for a short time. If someone were to experience silence in the right way for even a minute, then that one minute’s experience of silence would automatically continue to pull him again and again, because everyone wants peace. However, they don’t know the method and they don’t have the company. Since all souls love peace, then, when such souls experience peace, they automatically continue to be pulled. At every place, there are elevated souls who have become good instruments to carry out their special tasks. So, to perform wonders is not a big thing. The way to spread the sound is through the special souls of today. The more those special souls come into contact, the more many other souls will also be benefited through their contacts. Through one VIP many ordinary souls will also benefit. However, they will not come into a close relationship. In their own religion and in their own parts, they receive one special fruit or others. The Father loves those who are ordinary. They are the ones who can give time, whereas the others (VIPs) don’t have any time. However, when they become instruments, many then benefit from that. Achcha. BapDada meeting groups: Do you experience being souls who have received the blessing of immortality? You are constantly moving along whilst being sustained with blessings, are you not? Those who have unbroken love for the Father receive the blessing of immortality; they are constantly carefree emperors. Whilst being an instrument for a task, to remain carefree while doing it is a speciality. The Father has become the Instrument but, whilst being the Instrument, He is detached and this is why he is carefree. Follow the Father in the same way. Constantly continue to move along with the safety of love. On the basis of love, the Father makes you safe at all times and carries you forward by making you fly. You have this firm faith, too, do you not? Your love and spiritual relationship have been forged. Through this spiritual relationship you have become very much loved by one another. BapDada has told the mothers one very easy thing in just one phrase. Simply remember the one phrase: “My Baba!” That is all! You simply say, “My Baba!”, and you receive all the treasures. This word “Baba” is the key to all treasures. Mothers like looking after keys, don’t they? So BapDada has also given each of you a key. You can take whatever treasures you want. It is not a key to just one treasure; it is the key to all treasures. Simply continue to say, “Baba, Baba!” and you will become a child and a master now and a master in the future too. Constantly continue to dance in this happiness. Achcha.

Blessing: May you be decorated with a tilak of victory by creating your number one fortune with an unbroken line of faith.
Children whose intellects have faith never go into the expansion of “How?” (kaise?) or “Like this” (aise). The unbroken line of their faith is clearly seen by all souls. The line of their faith is never broken in-between. You will always see a tilak of victory on the foreheads of those who have such a line, that is, it is in their awareness. As soon as they are born, they have to wear the crown of responsibility of doing service. They will be those who are constantly playing with the jewels of knowledge. They will be those who spend their life constantly swinging in the swings of remembrance and happiness. This is the line of number one fortune.
Slogan: To have the punctuation of a full stop in the computer of your intellect means to remain happy.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

09-08-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 04-03-86 मधुबन

सर्व श्रेष्ठ रचना का फाउण्डेशन – स्नेह

आज बापदादा अपने श्रेष्ठ आत्माओं की रचना को देख हर्षित हो रहे हैं। यह श्रेष्ठ वा नई रचना सारे विश्व में सर्वश्रेष्ठ है और अति प्रिय है क्योंकि पवित्र आत्माओं की रचना है। पवित्र आत्मा होने के कारण अभी बापदादा को प्रिय हो और अपने राज्य में सर्व के प्रिय होंगे। द्वापर में भक्तों के प्रिय देव आत्मायें बनेंगे। इस समय हो परमात्म-प्रिय ब्राह्मण आत्मायें। और सतयुग त्रेता में होंगे राज्य अधिकारी परम श्रेष्ठ दैवी आत्मायें और द्वापर से अब कलियुग तक बनते हो पूज्य आत्मायें। तीनों में से श्रेष्ठ हो इस समय परमात्म प्रिय ब्राह्मण सो फरिश्ता आत्मायें। इस समय की श्रेष्ठता के आधार पर सारा कल्प श्रेष्ठ रहते हो। देख रहे हो कि इस लास्ट जन्म तक भी आप श्रेष्ठ आत्माओं का भक्त लोग कितना आह्वान कर रहे हैं। कितना प्यार से पुकार रहे हैं। जड़ चित्र जानते भी आप श्रेष्ठ आत्माओं की भावनाओं से पूजा करते, भोग लगाते, आरती करते हैं। आप डबल विदेशी समझते हो कि हमारे चित्रों की पूजा हो रही है? भारत में बाप का कर्तव्य चला है इसलिए बाप के साथ आप सबके चित्र भी भारत में ही हैं। ज्यादा मन्दिर भारत में बनाते हैं। यह नशा तो है ना कि हम ही पूज्य आत्मायें हैं? सेवा के लिए चारों ओर विश्व में बिखर गये थे। कोई अमेरिका तो कोई अफ्रीका पहुंच गये। लेकिन किसलिए गये हो? इस समय सेवा के संस्कार, स्नेह के संस्कार हैं। सेवा की विशेषता है ही स्नेह। जब तक ज्ञान के साथ रूहानी स्नेह की अनुभूति नहीं होती तो ज्ञान कोई नहीं सुनेगा।

आप सब डबल विदेशी बाप के बने तो आप सबका फाउन्डेशन क्या रहा? बाप का स्नेह, परिवार का स्नेह, दिल का स्नेह, नि:स्वार्थ स्नेह। इसने श्रेष्ठ आत्मा बनाया। तो सेवा का पहला सफलता का स्वरूप हुआ स्नेह। जब स्नेह में बाप के बन जाते हो तो फिर कोई भी ज्ञान की प्वाइंट सहज स्पष्ट होती जाती। जो स्नेह में नहीं आता वह सिर्फ ज्ञान को धारण कर आगे बढ़ने में समय भी लेता, मेहनत भी लेता क्योंकि उनकी वृत्ति क्यों, क्या ऐसा कैसे इसमें ज्यादा चली जाती। और स्नेह में जब लवलीन हो जाते तो स्नेह के कारण बाप का हर बोल स्नेही लगता। क्वेश्चन समाप्त हो जाते। बाप का स्नेह आकर्षित करने के कारण क्वेश्चन करेंगे तो भी समझने के रूप से करेंगे। अनुभवी हो ना। जो प्यार में खो जाते हैं तो जिससे प्यार है उसको वह जो बोलेगा उनको वह प्यार ही दिखाई देगा। तो सेवा का मूल आधार है स्नेह। बाप भी सदैव बच्चों को स्नेह से याद करते हैं। स्नेह से बुलाते हैं स्नेह से ही सर्व समस्याओं से पार कराते हैं। तो ईश्वरीय जन्म का, ब्राह्मण जन्म का फाउन्डेशन है ही स्नेह। स्नेह के फाउन्डेशन वाले को कभी भी कोई मुश्किल बात नहीं लगेगी। स्नेह के कारण उमंग-उत्साह रहेगा। जो भी श्रीमत बाप की है, हमें करना ही है। देखेंगे, करेंगे यह स्नेही के लक्षण नहीं। बाप ने मेरे प्रति कहा है और मुझे करना ही है। यह है स्नेही आशिक आत्माओं की स्थिति। स्नेही हलचल वाले नहीं होंगे। सदा बाप और मैं, तीसरा न कोई। जैसे बाप बड़े ते बड़ा है। स्नेही आत्मायें भी सदा बड़ी दिल वाली होती हैं। छोटी दिल वाले थोड़ी-थोड़ी बात में मूंझेंगे। छोटी बात भी बड़ी हो जायेगी। बड़ी दिल वालों के लिए बड़ी बात छोटी हो जायेगी। डबल विदेशी सब बड़ी दिल वाले हो ना! बापदादा सभी डबल विदेशी बच्चों को देख खुश होते हैं। कितना दूर-दूर से परवाने शमा के ऊपर फिदा होने पहुंच जाते हैं। पक्के परवाने हैं।

आज अमेरिका वालों का टर्न है! अमेरिका वालों को बाप कहते हैं- “आ मेरे”। अमेरिका वाले भी कहते हैं आ मेरे। यह विशेषता है ना! वृक्ष के चित्र मे आदि से विशेष शक्ति के रूप में अमेरिका दिखाया हुआ है। जब से स्थापना हुई है तो अमेरिका को बाप ने याद किया है। विशेष पार्ट है ना। जैसे एक विनाश की शक्ति श्रेष्ठ है – दूसरी क्या विशेषता है? विशेषतायें तो स्थान की हैं ही। लेकिन अमेरिका की विशेषता यह भी है एक तरफ विनाश कि तैयारियां भी ज्यादा हैं, दूसरी तरफ फिर विनाश को समाप्त करने की यू.एन. भी वहाँ है। एक तरफ विनाश की शक्ति, दूसरे तरफ है सभी को मिलाने की शक्ति। तो डबल शक्ति हो गई ना। वहाँ सभी को मिलाने के लिए प्रयत्न करते हैं, तो वहाँ से ही फिर यह रूहानी मिलन का भी आवाज बुलन्द होगा। वह लोग तो अपनी रीति से सभी को मिलाकर शांति का प्रयत्न करते हैं लेकिन यथार्थ रीति से मिलाना तो आप लोगों का ही कर्तव्य है ना। वह मिलाने की कोशिश करते भी हैं लेकिन कर नहीं पाते हैं। वास्तव में सभी धर्म की आत्माओं को एक परिवार में लाना यह है आप ब्राह्मणों का वास्तविक कार्य। यह विशेष करना है। जैसे विनाश की शक्ति वहाँ श्रेष्ठ है ऐसे ही स्थापना की शक्ति का आवाज बुलन्द हो। विनाश और स्थापना साथ-साथ दोनों झण्डे लहरावें। एक साइंस का झण्डा और एक साइलेन्स का। साइन्स की शक्ति का प्रभाव और साइलेन्स की शक्ति का प्रभाव दोनों जब प्रत्यक्ष हों तब कहेंगे प्रत्यक्षता का झण्डा लहराना। जैसे कोई वी.आई.पी. किसी भी देश में जाते हैं तो उनका स्वागत करने के लिए झण्डा लगा लेते हैं ना। अपने देश का भी लगाते हैं और जो आता है उनके देश का भी लगाते हैं। तो परमात्म-अवतरण का भी झण्डा लहरावें। परमात्म-कार्य का भी स्वागत करें। बाप का झण्डा कोने-कोने में लहरावे तब कहेंगे विशेष शक्तियों को प्रत्यक्ष किया। यह गोल्डन जुबली का वर्ष है ना। तो गोल्डन सितारा सभी को दिखाई दे। कोई विशेष सितारा आकाश में दिखाई देता है तो सभी का अटेन्शन उस तरफ जाता है ना। यह गोल्डन चमकता हुआ सितारा सभी की आंखों में, बुद्धि में दिखाई दे। यह है गोल्डन जुबली मनाना। यह सितारा पहले कहाँ चमकेगा?

अभी विदेश में अच्छी वृद्धि हो रही है और होनी ही है। बाप के बिछुड़े हुए बच्चे कोने-कोने में जो छिपे हुए हैं वह समय प्रमाण सम्पर्क में आ रहे हैं। सभी एक दो से सेवा में उमंग-उत्साह से आगे बढ़ रहे हैं। हिम्मत से मदद भी बाप की मिल जाती है। नाउम्मीद में भी उम्मीदों के दीपक जग जाते हैं। दुनिया वाले सोचते हैं यह होना तो असम्भव है। बहुत मुश्किल है। और लगन निर्विघ्न बनाकर उड़ते पंछी के समान उड़ाते पहुँचा देती है। डबल उड़ान से पहुंचे हो ना। एक प्लेन, दूसरा बुद्धि का विमान। हिम्मत उमंग के पंख जब लग जाते हैं तो जहाँ भी उड़ना चाहें उड़ सकते हैं। बच्चों की हिम्मत पर बापदादा सदा बच्चों की महिमा करते हैं। हिम्मत रखने से एक से दूसरा दीपक जगते माला तो बन गई है ना। मुहब्बत से जो मेहनत करते हैं उसका फल बहुत अच्छा निकलता है। यह सभी के सहयोग की विशेषता है। कोई भी बात हो लेकिन पहले दृढ़ता, स्नेह का संगठन चाहिए। उससे सफलता प्रत्यक्ष रूप में दिखाई देती है। दृढ़ता कलराठी जमीन में भी फल पैदा कर सकती है। आजकल साइंस वाले रेत में भी फल पैदा करने का प्रयत्न कर रहे हैं। तो साइलेन्स की शक्ति क्या नहीं कर सकती है! जिस धरनी को स्नेह का पानी मिलता है वहाँ के फल बड़े भी होते और स्वादिष्ट भी होते हैं। जैसे स्वर्ग में बड़े-बड़े फल और टेस्टी भी अच्छे होते हैं। विदेश में बड़े फल होते हैं लेकिन टेस्टी नहीं होते। फल की शक्ल बहुत अच्छी होती लेकिन टेस्ट नहीं। भारत के फल छोटे होते लेकिन टेस्ट अच्छी होती है। फाउन्डेशन तो सब यहाँ ही पड़ता। जिस सेन्टर पर स्नेह का पानी मिलता है वह सेन्टर सदा फलीभूत होता है। सेवा में भी और साथियों में भी। स्वर्ग में शुद्ध पानी शुद्ध धरती होगी, तब ऐसे फल मिलते हैं। जहाँ स्नेह है वहाँ वायुमण्डल अर्थात् धरनी श्रेष्ठ होती है। वैसे भी जब कोई डिस्टर्ब होता है तो क्या कहते हैं! मुझे और कुछ नहीं चाहिए, सिर्फ स्नेह चाहिए। तो डिस्टर्ब होने से बचने का साधन भी स्नेह ही है। बापदादा को सबसे बड़ी खुशी इस बात की है कि खोये हुए बच्चे फिर से आ गये हैं। अगर आप वहाँ नहीं पहुंचते तो सेवा कैसे होती इसलिए बिछुड़ना भी कल्याणकारी हो गया। और मिलना तो है ही कल्याणकारी। अपने-अपने स्थान पर सब अच्छे उमंग से आगे बढ़ रहे हैं और सभी के अन्दर एक लक्ष्य है कि बापदादा की जो एक ही आश है कि सर्व आत्माओं को अनाथ से सनाथ बना दें, यह आश हम पूर्ण करें। सभी ने मिलकर जो शान्ति के लिए विशेष प्रोग्राम बनाया है, वह भी अच्छा है। कम से कम सभी को थोड़ा साइलेन्स में रहने का अभ्यास कराने के निमित्त तो बन जायेंगे। अगर कोई सही रीति से एक मिनट भी साइलेन्स का अनुभव करे तो वह एक मिनट की साइलेन्स का अनुभव बार-बार उनको स्वत: ही खींचता रहेगा क्योंकि सभी को शान्ति चाहिए। लेकिन विधि नहीं आती है। संग नहीं मिलता है। जबकि शान्ति प्रिय सब आत्मायें है तो ऐसी आत्माओं को शांति की अनुभूति होने से स्वत: ही आकर्षित होते रहेंगे। हर स्थान पर अपने-अपने विशेष कार्य करने वाले अच्छी निमित्त बनी हुई श्रेष्ठ आत्मायें हैं। तो कमाल करना कोई बड़ी बात नहीं है। आवाज फैलाने का साधन है ही आजकल की विशेष आत्मायें। जितना कोई विशेष आत्मायें सम्पर्क में आती हैं तो उनके सम्पर्क से अनेक आत्माओं का कल्याण होता है। एक वी.आई.पी. द्वारा अनेक साधारण आत्माओं का कल्याण हो जाता है। बाकी समीप सम्बन्ध में तो नहीं आयेंगे। अपने धर्म में, अपने पार्ट में उन्हों को विशेषता का कोई न कोई फल मिल जाता है। बाप को पसन्द साधारण ही हैं। समय भी वह दे सकते हैं। उन्हों को तो समय ही नहीं है। लेकिन वह निमित्त बनते हैं तो फायदा अनेकों को हो जाता है। अच्छा।

पार्टियों से:-

सदा अमर भव की वरदानी आत्मायें हैं – ऐसा अनुभव करते हो? सदा वरदानों से पलते हुए आगे बढ़ रहे हो न! जिनका बाप से अटूट स्नेह है वह अमर भव के वरदानी हैं, सदा बेफिकर बादशाह हैं। किसी भी कार्य के निमित्त बनते भी बेफिकर रहना यही विशेषता है। जैसे बाप निमित्त तो बनता है ना! लेकिन निमित्त बनते भी न्यारा है इसलिए बेफिकर है। ऐसे फालो फादर। सदा स्नेह की सेफ्टी से आगे बढ़ते चलो। स्नेह के आधार पर बाप सदा सेफ कर आगे उड़ाके ले जा रहा है। यह भी अटल निश्चय है ना। स्नेह का रूहानी सम्बन्ध जुट गया। इसी रूहानी सम्बन्ध से कितना एक दो के प्रिय हो गये। बापदादा ने माताओं को एक शब्द की बहुत सहज बात बताई है, एक शब्द याद करो “मेरा बाबा” बस। मेरा बाबा कहा और सब खजाने मिले। यह बाबा शब्द ही चाबी है खजानों की। माताओं को चाबियां सम्भालना अच्छा आता है ना। तो बापदादा ने भी चाबी दी है। जो खजाना चाहें वह मिल सकता है। एक खजाने की चाबी नहीं है, सभी खजानों की चाबी है। बस बाबा-बाबा कहते रहो तो अभी भी बालक सो मालिक और भविष्य में भी मालिक। सदा इसी खुशी में नाचते रहो। अच्छा।

वरदान:- निश्चय की अखण्ड रेखा द्वारा नम्बरवन भाग्य बनाने वाले विजय के तिलकधारी भव
जो निश्चयबुद्धि बच्चे हैं वह कभी कैसे वा ऐसे के विस्तार में नहीं जाते। उनके निश्चय की अटूट रेखा अन्य आत्माओं को भी स्पष्ट दिखाई देती है। उनके निश्चय के रेखा की लाइन बीच-बीच में खण्डित नहीं होती। ऐसी रेखा वाले के मस्तक में अर्थात् स्मृति में सदा विजय का तिलक नज़र आयेगा। वे जन्मते ही सेवा की जिम्मेवारी के ताजधारी होंगे। सदा ज्ञान रत्नों से खेलने वाले होंगे। सदा याद और खुशी के झूले में झूलते हुए जीवन बिताने वाले होंगे। यही है नम्बरवन भाग्य की रेखा।
स्लोगन:- बुद्धि रूपी कम्प्युटर में फुलस्टॉप की मात्रा आना माना प्रसन्नचित रहना।

TODAY MURLI 9 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 9 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 8 August 2019:- Click Here

09/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are living lighthouses. You have to give everyone the Father’s introduction and show them the way to their home.
Question: As you make progress, what direction are many souls going to receive and in what way?
Answer: As you make progress, many people will receive the direction: Go to the Brahma Kumars and Kumaris and they will give you knowledge for you to become princes of Paradise. They will receive this signal by having a vision of Brahma. Generally, they have a vision of Brahma or Shri Krishna. Just as the part of visions took place in the beginning, so it will also take place at the end.

Om shanti. The spiritual Father asks you children. He cannot ask everyone. He asks daughter Nalini: What are you doing here? In remembrance of whom are you sitting here? The Father? Are you sitting in remembrance of just the Father or are you also remembering something else? Your sins will be absolved by having remembrance of the Father. What else are you remembering? This is the work of the intellect. We souls have to go to our home and so we have to remember the home. Achcha, what else do you have to do? Will you go home and just sit there? They have shown Vishnu with a discus of self-realisation. The Father has now explained to you the meaning of that. The self, that is, the soul, had a vision of his cycle of 84 births. So, that discus also has to be turned. You know that we go around the cycle of 84 births and return home. Then, from there, we will go into the golden age to play our parts. We will then go around the cycle of 84 births. Vishnu does not have a discus. He is a deity of the golden age. Call it the land of Vishnu or the land of Lakshmi and Narayan or call it heaven, there used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in heaven. If you call it the kingdom of Radhe and Krishna, you are making a mistake. There is no kingdom of Radhe and Krishna because they are a prince and princess from separate kingdoms. They become the masters of the kingdom after their marriage. So, they have shown Vishnu with a discus, but that is in fact your cycle. Therefore, when you sit here, you mustn’t just sit in silence. You also have to remember your inheritance and this is why there is this cycle. The Father says: You are lighthouses. You are walking and talking lighthouses. You have the land of peace in one eye and the land of happiness in the other eye. You have to remember both. Your sins are cut away by having remembrance. By remembering your home, you will go home. You also have to remember the cycle. Only you have the knowledge of this whole cycle. You have been around the cycle of 84 births and this is now the final birth in the land of death. The new world is called the land of immortality. “Immortal” means that you are constantly alive, that you never die. Here, people die suddenly while just sitting somewhere because there are illnesses. There, there is no fear of dying because that is the land of immortality. Even when you become old, you have the knowledge that you will go and enter the palace of a womb. Now you go into the jail of a womb. There, a womb is like a palace. There, no sins are committed that anyone would have to have punishment. Here, people commit sins due to which they experience punishment. Then, when they come out of the womb, they begin to commit sin again. This is the world of sinful souls. Here, there is nothing but sorrow. The name “sorrow” doesn’t exist there. So, keep the land of peace in one eye and the land of happiness in the other eye. Although you have been doing tapasya and chanting mantras etc. for birth after birth, you did not have this knowledge. That is devotion. You are not shown the method there for becoming satopradhan. No one knows this. They have just heard that God Krishna says: Renounce everything including your body… These are words from the Gita which they read and relate to everyone. You are not asked to become like that. They simply read it, saying that this is what God said, before He departed, when He came to purify the impure. It is just that they have inserted Krishna’s name in the Gita instead of that of the Supreme Father, the Supreme Soul. Krishna is the charioteer. Does he need a chariot? He himself is a bodily being. Who gave him the name, “Krishna”? On the sixth day after a baby is born, they have a naming ceremony. The Father is just called Shiva. You souls come into birth and rebirth and so the names of the bodies change. Shiv Baba does not come into birth and death. He is always Shiva. When people apply a zero, they say, “Shiva”. A soul is an extremely subtle point. When someone has a vision of a soul, he is unable to understand it. When you see a vision of a goddess, they would become happy. Achcha, what then? There was no attainment, no meaning. They just performed intense devotion, had a vision and thereby became happy with that. However, there is no question of them receiving liberation or liberation-in-life. All of that is the path of devotion. This, here, is the path of knowledge. Here, people generally have a vision of Brahma and then of Shri Krishna. They would be told (in their vision): Go to this Brahma and you will go to the land of Krishna or to Paradise. They can also have visions of Lakshmi and Narayan. It isn’t that just because they received a vision, they are in salvation. They just receive a signal: Go there. As you progress further, many will have visions and they will receive directions. The picture of your Trimurti and also the name of the Brahma Kumaris are printed in the newspapers. So they would have a vision of Brahma: By going to that one you will receive knowledge of how to become a prince of Paradise, just as Arjuna had a vision of Vishnu and of destruction. The Father tells you how you have to become like a lotus, but you don’t remain constant and this is why the ornaments have been given to Vishnu. Why would deities need the conch shell etc? Speaking knowledge through your lips is called blowing the conch shell. The Father also explains the significance of the lotus to you. You Brahmins have to become like a lotus at this time. The mace is for conquering Maya, the five vices. The Father shows you the method: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. Follow shrimat and remember the Purifier Father. No one, apart from the Father, is the Purifier. The Father says: You all call out to Me to come and liberate all of you from your bodies and take you to the pure world. So, the Father comes and makes all souls pure from impure because impure souls cannot go home or to heaven. The Father says: If you want to become pure, remember Me. Only by having remembrance will your sins be cut away. I guarantee this. People call out: O Purifier, come! Purify us and take us to the new world. So, how will they go? The Father tells you something so straightforward. This is the Father’s easy knowledge and easy matters. He says: While doing your work, remember Me! You may do your job etc. and prepare food, but do that while in remembrance and the food will be purified. This is why it is remembered that even the deities had a desire for Brahma bhojan. Even these daughters go with bhog to the subtle region and a meeting takes place there. A gathering of Brahmins and deities takes place there. They come to accept the food. Before brahmin priests take their meals, they chant a mantra. Brahma bhojan is praised a lot. Sannyasis only remember the brahm element; their religion is separate. Those are limited sannyasis. They say that they have renounced their homes, families, wealth etc., that they have renounced everything. They have now pushed their way in (the cities). Yours is unlimited renunciation. You even forget this old world. You then have to go to the new world. While living at home with your families, it is in your intellects that you have to go the land of happiness via the land of peace. You also have to remember the land of peace. You remember the Father and the lands of peace and happiness. This is the final birth of our many births. Our 84 births are now complete. From the sun dynasty, we became the moon dynasty then we became merchants and then shudras. Those people then say that each soul is the Supreme Soul and that the soul is not affected by anything because the soul is the Supreme Soul. The Father says: That meaning of theirs is wrong. The Father sits here and explains the meaning of “hum so” to you. I, the soul, am a child of the Supreme Father, the Supreme Soul. First of all, I was a deity, a resident of heaven, and then I became a moon-dynasty warrior. After 2500 years were completed, we became merchants and then shudras, vicious ones. We have now become Brahmins, the topknot. We are sitting here and it is as though we are doing a somersault of 84 births. We have knowledge of this somersault. Previously, when people went on pilgrimages, they would make marks along the way as they somersaulted. Your true pilgrimage is to the land of peace and the land of happiness. You are spiritual pilgrims who give this advice to everyone: Remember the Father and you will go to the land of peace. Sages and holy men etc. all make effort to go to the land of peace but no one can go there. Everyone, the whole lot, will go there together. The Father has explained that there are very few in the golden age and then growth takes place. You are spinners of the discus of self-realisation; the deities are not that. However, at this time, you have a war with Maya. In that war, too, they go and seek refuge with the side they consider to be powerful. Whom are you now taking refuge with at this time? Both husband and wife say: I seek refuge with You. Mine is one Shiv Baba and none other. The Father of all souls is One. You are the children of that One. Sages and holy men are not that One. In that case, there would be many Gods! Whoever sulks with his home and family becomes God! Many wealthy millionaires go and become their followers. Then they celebrate with impure food. They are tamopradhan human beings. Hindus don’t even know about their own religion. The Father explains: In fact, you belong to the original, eternal, deity religion but you have now become impure and so you cannot call yourselves deities. That religion has now disappeared. People are so vicious and they have a criminal eye. A minister who came to Baba said: My vision becomes criminal. The Father now explains: Children, become those with a civil eye. For as long as you have a criminal eye, you are impure. Consider yourselves to be brothers and that criminal vision will end. We souls are brothers and we are claiming our inheritance from the one Father. The throne of the soul is this forehead. This is called the immortal throne. The immortal soul is sitting on this throne. This body is a puppet of clay. A whole part is recorded in each soul. The Father says: I come after 5000 years to give you children the inheritance. You know that you have come here to claim your inheritance of health, wealth and happiness. In the golden age, you receive a lot of wealth. You become deities for 21 generations. None of them die until they reach old age. Here, people die suddenly while just sitting somewhere. Sometimes, they even die in the womb. There, there is no mention of sorrow. That is called the land of happiness, the kingdom of Rama, whereas this is the land of sorrow, the kingdom of Ravan. Ravan does not exist in the golden age. So, you will also keep this cycle of 84 births in your intellects and remain very happy. You know that you are going to become the masters of the new world, that is, the masters of the golden age. It says in the Gita: God speaks: O child, renounce your body and all bodily relations. Consider yourself to be a soul and constantly remember Me alone. That one God is your true Friend. All the plays of Allah-avaldin (the first religion) and of hatam-tai (bead in your mouth) are of this time. People now beat their heads so much in order for fewer children to be born. The unlimited Father reduces this population so much. In the golden age, there is a population of just 900,000 in the whole world. There aren’t this many millions of people there. All will go to the land of liberation, the land of peace. This is a miracle. He lays the foundation of the one deity religion and destroys all the other religions. You have to make this cycle of 84 sit in your intellects very well. This is the discus of self-realisation. It is not a discus for cutting anyone’s throat. In the scriptures, they have said violent things about Krishna. They say that he killed everyone with a discus of self-realisation. So, that too is defamation. They have made him so violent! You become doubly non-violent. To use the sword of lust is also violence. Deities are said to be pure. When you can become the masters of the world with the power of yoga, why can children not be born through the power of yoga? They would have a vision that they are going to have a child. Baba understands that he will shed this old body and then have a golden spoon in the mouth. You also understand that when you take birth in the land of immortality, you will have a golden spoon in your mouth. Poor subjects are also needed. There is no question of any type of sorrow there. The subjects do not have as much wealth or prosperity, but they do have happiness and a long lifespan. Kings, queens, wealthy subjects are all needed. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Together with staying in remembrance of the Father, remember the cycle of 84 births in order to stay in happiness. Spin the discus of self-realisation and make God your true Friend.
  2. In order to become doubly non-violent, change your criminal eye and make it civil. Practise: We souls are brothers.
Blessing: May you be “master merciful” and give courage to souls who are distressed because of their tension and enable them to move forward.
At present, many souls are distressed because of their internal tension and those poor helpless ones do not have the courage to move forward. You have to give them courage. When someone doesn’t have a leg, he is given an artificial, wooden leg so that he can walk. In the same way, give them the leg of courage because BapDada sees what the internal condition is of the children who do not have knowledge. Externally, their condition may be tip-top and very good, but internally, they are very unhappy and so become “master merciful”.
Slogan: Be humble, not delicate; humility is greatness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 August 2019

To Read Murli 8 August 2019:- Click Here
09-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम हो चैतन्य लाइट हाउस, तुम्हें सबको बाप का परिचय देना है, घर का रास्ता बताना है”
प्रश्नः- आगे चलकर कौन-सा डायरेक्शन और किस विधि से अनेक आत्माओं को मिलने वाला है?
उत्तर:- आगे चलकर बहुतों को यह डायरेक्शन मिलेगा कि तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियों के पास जाओ तो तुमको यह वैकुण्ठ का प्रिन्स बनने का ज्ञान देंगे। यह इशारा उन्हों को ब्रह्मा के साक्षात्कार से मिलेगा। अक्सर करके ब्रह्मा और श्रीकृष्ण का ही साक्षात्कार होता है। जैसे आदि में साक्षात्कार का पार्ट चला, ऐसे ही अन्त में भी चलने वाला है।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बच्चों से पूछते हैं, सबसे तो नहीं पूछ सकते। नलिनी बेटी से पूछते हैं कि यहाँ क्या कर रही हो? किसकी याद में बैठी हो? बाप की। सिर्फ बाप की याद में बैठी हो या और भी कुछ याद है? बाप की याद से तो विकर्म विनाश होंगे, और क्या याद करती हो? यह बुद्धि का काम है ना। हम आत्माओं को अपने घर जाना है तो घर को भी याद करना है। अच्छा, और क्या करना है? क्या घर में जाकर बैठ जाना है! विष्णु को स्वदर्शन चक्र दिखाते हैं ना। उनका अर्थ भी बाप ने अब समझाया है। स्व अर्थात् आत्मा को दर्शन हुआ, 84 जन्मों के चक्र का। तो वह चक्र भी फिराना पड़े। तुम जानते हो हम 84 का चक्र लगाकर घर जायेंगे। फिर वहाँ से आयेंगे सतयुग में पार्ट बजाने। फिर 84 का चक्र लगायेंगे। विष्णु को कोई चक्र होता नहीं। वह तो है सतयुग का देवता। विष्णुपुरी कहो या लक्ष्मी-नारायण की पुरी कहो, स्वर्ग कहो। स्वर्ग में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। अगर राधे-कृष्ण का राज्य कहते हैं तो यह भूल करते हैं। राधे-कृष्ण का राज्य तो होता नहीं क्योंकि दोनों अलग-अलग राजाई के प्रिन्स-प्रिन्सेज थे, राजाई के मालिक तो फिर स्वयंवर के बाद बनेंगे। तो यह जो विष्णु को चक्र दिया है, यह चक्र है तुम्हारा। तो यहाँ जब बैठते हो तो सिर्फ शान्ति में नहीं बैठना है। वर्सा भी याद करना है इसलिए यह चक्र है। बाप कहते हैं तुम लाइट हाउस भी हो, बोलता चलता लाइट हाउस हो। एक आंख में है शान्तिधाम, एक आंख में है सुखधाम। दोनों को याद करना पड़ता है। याद से तो पाप कटने हैं। घर को याद करने से घर में चले जायेंगे फिर चक्र को भी याद करना है। यह सारे चक्र की नॉलेज तुमको ही है। 84 का चक्र लगाया है। अब यह अन्तिम जन्म है मृत्युलोक में। नई दुनिया को कहा जाता है अमरलोक। अमर अर्थात् तुम सदैव जीते रहते हो। तुम कभी मरते नहीं हो। यहाँ तो बैठे-बैठे अचानक मृत्यु हो जाती है। बीमारियाँ होती हैं, वहाँ मरने का डर नहीं क्योंकि अमरलोक है। तुम बुढ़े होते हो तो भी ज्ञान है हम गर्भमहल में जाकर प्रवेश करेंगे। अभी जाते हैं गर्भ जेल में। वहाँ तो गर्भ महल होता है। वहाँ पाप तो करते नहीं जो सजा भोगनी पड़े। यहाँ तो पाप करते हैं, जिस कारण सजा भोग कर बाहर निकलते हैं तो फिर पाप शुरू कर लेते हैं। यह है पाप आत्माओं की दुनिया। यहाँ तो दु:ख ही होता है। वहाँ दु:ख का नाम नहीं। तो एक आंख में शान्तिधाम, दूसरी आंख में सुखधाम रखो। भल तुम जन्म-जन्मान्तर जप-तप आदि करते आये हो परन्तु वह ज्ञान तो नहीं है ना। वह है भक्ति। उसमें कोई युक्ति भी नहीं मिलती कि तुम ऐसे सतोप्रधान बन सकते हो। कोई भी नहीं जानते। बस सुना है कृष्ण – भगवानुवाच देह सहित……. यह गीता के अक्षर हैं जो पढ़कर सुनाते हैं। ऐसे नहीं कहते कि तुम ऐसे बनो। सिर्फ पढ़ते हैं भगवान ऐसे कहकर गया था, जब आया था पतितों को पावन बनाने। सिर्फ गीता में परमपिता परमात्मा के बदले कृष्ण का नाम डाल दिया है। अब कृष्ण तो रथी है ना। उनको रथ चाहिए क्या? वह तो खुद देहधारी है। कृष्ण का नाम किसने रखा? जैसे छठी होती है तो नाम सबके पड़ते हैं। बाप को तो सिर्फ शिव ही कहा जाता है। तुम आत्मायें जन्म-मरण में आती हो तो शरीर का नाम बदलता है। शिवबाबा तो जन्म-मरण में आता नहीं। वह सदैव शिव ही है। बुरी (बिन्दी) जब लिखते हैं तो कहते है शिव। बिन्दी आत्मा तो है बिल्कुल सूक्ष्म। आत्मा का अगर साक्षात्कार होता तो भी किसको समझ में नहीं आता। देवी को देख खुश हो जायेंगे। अच्छा, फिर क्या, प्राप्ति तो कुछ नहीं, अर्थ नहीं। सिर्फ नौधा भक्ति की, दर्शन किया तो उसमें ही खुश हो जाते हैं। बाकी मुक्ति-जीवनमुक्ति की तो बात ही नहीं है। वह है सब भक्ति मार्ग। यहाँ यह है ज्ञान मार्ग। यहाँ अक्सर करके साक्षात्कार होता है ब्रह्मा का, फिर श्रीकृष्ण का होगा। कहेंगे इस ब्रह्मा के पास जाओ तो तुम कृष्णपुरी वा वैकुण्ठ में जायेंगे। लक्ष्मी-नारायण का भी साक्षात्कार हो सकता है। ऐसे नहीं, साक्षात्कार हुआ माना सद्गति हो गई। यह सिर्फ इशारा मिलता है, यहाँ जाओ। आगे चल बहुतों को साक्षात्कार होगा, डायरेक्शन मिलेगा। तुम्हारा त्रिमूर्ति भी अखबार में पड़ता है, ब्रह्माकुमारियों का नाम भी पड़ता है। तो ब्रह्मा का ही साक्षात्कार होगा कि इनके पास जाने से तुमको यह वैकुण्ठ का प्रिन्स बनने का ज्ञान मिलेगा। जैसे अर्जुन को विष्णु का और विनाश का साक्षात्कार हुआ।

बाप कहते हैं तुमको कैसे कमल फूल समान बनना है। परन्तु स्थाई तो तुम नहीं रहते हो इसलिए अलंकार विष्णु को दे दिये हैं। नहीं तो देवताओं को शंख आदि की दरकार है क्या। मुख से सुनाने को शंख ध्वनि कहा जाता है। कमल का राज़ भी बाप समझाते हैं। तुम ब्राह्मणों को इस समय कमल फूल समान बनना है। गदा है 5 विकारों रूपी माया को जीतने की। बाप उपाय बताते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। श्रीमत पर चलकर पतित-पावन बाप को याद करो। दूसरा तो कोई पतित-पावन है नहीं सिवाए एक बाप के। बाप कहते हैं मुझे बुलाते ही इसलिए हैं कि हम सबको इस शरीर से छुड़ाकर पावन दुनिया में ले चलो। तो बाप ही आकर सब आत्माओं को पतित से पावन बनाते हैं क्योंकि अपवित्र आत्मायें तो घर में अथवा स्वर्ग में जा नहीं सकती हैं। बाप कहते है पवित्र बनना है तो मुझे याद करो। याद से ही तुम्हारे पाप कटते जायेंगे। यह मैं गैरन्टी करता हूँ। बुलाते हैं – हे पतित-पावन आओ। हमको पावन बनाकर नई दुनिया में ले चलो। तो कैसे जायेंगे? कितनी सीधी बात बताते हैं। बाप की सहज नॉलेज और सहज बात है। कहते हैं कामकाज करते हुए मुझे याद करो। भल नौकरी आदि करो, भोजन बनाओ तो भी याद में रहकर, तो भोजन भी शुद्ध होगा इसलिए गाया जाता है ब्रह्मा भोजन के लिए देवताओं को भी दिल होती है। यह बच्चियाँ भी भोग लेकर जाती हैं। तो वहाँ महफिल होती है। ब्राह्मणों और देवताओं का मेला लगता है। भोजन स्वीकार करने आते हैं। ब्राह्मण लोग जब भोजन पान करते हैं तो भी मंत्र जपते हैं। ब्रह्मा भोजन की बहुत महिमा है। सन्यासी तो ब्रह्म को ही याद करते हैं। उनका धर्म ही अलग है। वह हैं हद के सन्यासी। कहते हैं हमने घरबार मिलकियत आदि सब छोड़ा है। फिर अभी अन्दर घुस पड़ते हैं। तुम्हारा है बेहद का सन्यास। तुम इस पुरानी दुनिया को ही भूल जाते हो। तुमको फिर जाना है नई दुनिया में। घर गृहस्थ में रहते बुद्धि में यह है कि अब हमको जाना है सुखधाम वाया शान्तिधाम। शान्तिधाम को भी याद करना पड़े। बाप को, शान्तिधाम और सुखधाम को याद करते हैं। यह हमारा बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है। 84 जन्म पूरे हुए। सूर्यवंशी से चन्द्रवंशी फिर वैश्य, शूद्र वंशी बनें….। वे लोग फिर कहते आत्मा सो परमात्मा, आत्मा को कोई लेप छेप नहीं लगता क्योंकि आत्मा ही परमात्मा है। बाप कहते हैं – यह भी उन्हों का उल्टा अर्थ है। बाप बैठ हम सो का अर्थ समझाते हैं। हम आत्मा परमपिता परमात्मा की सन्तान हूँ। पहले-पहले हम स्वर्गवासी देवता थे फिर चन्द्रवंशी क्षत्रिय बने, 2500 वर्ष पूरा हुआ फिर वैश्य शूद्र वंशी विकारी बनें। अब हम ब्राह्मण चोटी बनते हैं। यहाँ बैठे हैं, जैसे कि 84 की बाजोली खेलते हैं। यह बाजोली का भी ज्ञान है। आगे तीर्थों पर जाते थे तो भी ऐसे बाजोली करते निशान डालते जाते थे। अभी तुम्हारा तो सच्चा तीर्थ है – शान्तिधाम और सुखधाम। तुम हो रूहानी पण्डे। सबको राय देते हो – बाप को याद करो तो शान्तिधाम चले जायेंगे। साधू सन्त आदि सब शान्तिधाम में जाने के लिए ही मेहनत करते हैं। परन्तु जा कोई भी नहीं सकते। जायेंगे फिर सारा होल लॉट इकट्ठा। बाप ने समझाया है सतयुग में तो बहुत थोड़े होते हैं फिर वृद्धि होती जाती है। तो तुम हो स्वदर्शन चक्रधारी। देवतायें नहीं हैं। परन्तु इस समय तुम्हारी माया के साथ युद्ध चल रही है। उस लड़ाई में भी जिसको जोरदार समझते हैं तो फिर उनके पास जाकर शरण लेते हैं। अभी तुम किसकी शरण लेते हो? स्त्री-पुरूष दोनों कहते हैं हम शरण पड़ते हैं तेरी। मेरा तो एक शिवबाबा, दूसरा न कोई, सब आत्माओं का बाप तो एक है ना। उस एक के तुम बच्चे हो। साधू सन्त तो एक नहीं हैं। अनेक भगवान हो जाते हैं। जो घर से रूठे वह भगवान, फिर बड़े-बड़े साहूकार, करोड़पति जाकर उन्हों के शिष्य बनते हैं और महफिल मनाते हैं गन्दे खान-पान की। तमोप्रधान मनुष्य हैं ना। हिन्दुओं को फिर अपने धर्म का ही पता नहीं है।

बाप समझाते हैं तुम तो वास्तव में आदि सनातन देवी-देवता धर्म के हो, परन्तु पतित बन गये हो इसलिए अपने को देवता कहला नहीं सकते। वह धर्म ही प्राय: लोप हो गया है। मनुष्य कितने विकारी क्रिमिनल आई वाले हैं। एक मिनिस्टर बाबा के पास आया था, बोला – हमारी तो क्रिमिनल आई जाती है। अब बाप समझाते हैं – बच्चे, सिविल आई बनो। जब तक क्रिमिनल आई जाती है तब तक तुम पतित हो। अपने को भाई-भाई समझो तो वह क्रिमिनल दृष्टि उड़ जायेगी। हम आत्मा भाई-भाई हैं। एक बाप से वर्सा ले रहे हैं। आत्मा का तख्त यह भ्रकुटी है। इसको कहा जाता है अकाल तख्त। अकाल आत्मा इस तख्त पर विराजमान है। यह तो मिट्टी का पुतला है। सारा पार्ट आत्मा में ही भरा हुआ है। बाप कहते हैं मैं 5 हज़ार वर्ष के बाद आता हूँ, तुम बच्चों को वर्सा देने। तुम जानते हो हम आये हैं हेल्थ, वेल्थ, हैपीनेस का वर्सा लेने। सतयुग में अथाह धन मिलता है। तुम 21 पीढ़ी देवता बनते हो। बुढ़ापे बिगर कभी कोई मरेगा नहीं। यहाँ तो बैठे-बैठे अचानक मर पड़ते हैं। गर्भ में अन्दर भी मर पड़ते हैं। वहाँ तो दु:ख का नाम नहीं होता। उनको कहा जाता है सुखधाम, राम राज्य। यह है दु:खधाम रावण राज्य। सतयुग में रावण होता ही नहीं।

तो यह 84 का चक्र भी बुद्धि में तुमको याद रहेगा। बहुत खुशी रहेगी। तुम जानते हो हम नये विश्व के अर्थात् सतयुग के मालिक बनने वाले हैं। गीता में भी भगवानुवाच है ना – हे बच्चे, देह सहित देह के सब सम्बन्धों को छोड़ो। अपने को आत्मा समझ मामेकम् याद करो। तुम्हारा सच्चा-सच्चा खुदा दोस्त वह है। अल्लाह अवलदीन का नाटक, हातमताई का नाटक – सब इस समय के हैं। अभी मनुष्य कितना माथा मारते रहते हैं – बच्चे कम पैदा हों। बेहद का बाप कितना कम कर देते हैं। सारे विश्व में, सतयुग में 9 लाख आबादी जाकर रहती है। बाकी इतने करोड़ों मनुष्य होते ही नहीं। सब मुक्तिधाम, शान्तिधाम में चले जायेंगे। यह तो करामत की बात है ना। एक देवी-देवता धर्म का फाउन्डेशन लगाकर बाकी सब विनाश कर देते हैं। यह 84 का चक्र अच्छी रीति बुद्धि में बिठाना है। यह है स्वदर्शन पा। बाकी चक्र से कोई का गला आदि नहीं काटना है। शास्त्रों में फिर कृष्ण के लिए हिंसक बातें लगा दी हैं। सबको स्वदर्शन चक्र से मारा। यह भी ग्लानि हुई ना। कितना हिंसक बना दिया है। तुम डबल अहिंसक बनते हो। काम कटारी चलाना यह भी हिंसा है। देवताओं को तो पवित्र कहा जाता है। योगबल से जबकि विश्व के मालिक बन सकते हो तो योगबल से बच्चे क्यों नहीं पैदा हो सकते हैं। साक्षात्कार होगा अब बच्चा होना है। बाबा तो समझते हैं अभी यह पुराना शरीर छोड़ेंगे और गोल्डन स्पून इन माउथ। तुम भी समझते हो हम अमरलोक में जन्म लेंगे तो गोल्डन स्पून इन माउथ होगा। गरीब प्रजा भी चाहिए ना। दु:ख की कोई भी बात होती ही नहीं है। प्रजा के पास थोड़ेही इतना धन माल आदि होता है। बाकी हाँ, सुख होगा, आयु बड़ी होगी। राजा, रानी, साहूकार प्रजा सब चाहिए ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप की याद के साथ-साथ खुशी में रहने के लिए 84 के चक्र को भी याद करना है। स्वदर्शन चक्र फिराना है। खुदा को अपना सच्चा दोस्त बनाना है।

2) डबल अहिंसक बनने के लिए क्रिमिनल आई को बदल सिविल आई बनानी है। हम आत्मा भाई-भाई हैं, यह अभ्यास करना है।

वरदान:- टेन्शन से परेशान दु:खी आत्माओं को हिम्मत देकर आगे बढ़ाने वाले मास्टर रहमदिल भव
वर्तमान समय बहुत सी आत्मायें अन्दर टेन्शन से दु:खी परेशान हैं, बिचारों में आगे बढ़ने की हिम्मत नहीं है। आप उन्हें हिम्मत दो। जैसे किसको टांग नहीं होती है तो लकड़ी की टांग बनाकर देते हैं तो चलने लगता है। ऐसे आप उन्हें हिम्मत की टांग दो, क्योंकि बापदादा देखते हैं अज्ञानी बच्चों का अन्दर क्या हाल है, बाहर का शो तो बहुत अच्छा टिपटाप है लेकिन अन्दर बहुत दु:खी हैं तो मास्टर रहमदिल बनो।
स्लोगन:- निर्माण बनो, कोमल नहीं, निर्माणता ही महानता है।

TODAY MURLI 9 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 9 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 8 August 2018 :- Click Here

09/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come into the gathering of the iron age. This is a huge gathering. In this gathering you moths sacrifice yourselves to the Flame and become pure.
Question: What is the reason why, even now, the efforts of some children are as slow as an ant?
Answer: Some children have the habit of sulking. They sulk with the Father and stop studying. Then, Maya catches hold of them by their nose or ears. This is why there is no progress in their effort; it remains at the pace of an ant. You children should have an interest in becoming a murlidhar (one who relates the murli). You have to listen to it and relate it to others. You have to show the results. The children who miss the murli and have no value for this study can never become fortunate.
Song: The Flame has ignited in the gathering of the moths. 

Om shanti. The Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, is also called the Flame. Many names have been given to Him, and so people have thereby become confused. Souls too are images of light. You are now becoming constantly ignited lights. The Flame has come into this huge gathering. This gathering is very large. Some come and belong to the Father. They belong to the Father and sacrifice themselves while alive. Once you renounce body consciousness you are dead to the world and the world is dead for you. Who are you? Souls. When souls leave their bodies, it is as though the whole world is dead for them. The Father now tells you: Consider yourself to be souls. We belong to the Father. You have to end the awareness of the body. When people die, they forget everything including their bodies. If they have left their bodies, all their connections are broken. Connections only exist while having a body. You remain bodiless even while in a body, because your connection is now with the Father. The Father has also adopted a body in order to teach you Raja Yoga. He has come into the gathering. Among you, a few understand this fully, some partially, and some don’t understand anything at all. The Father says: I have come into this creation. Only human beings will understand these things. The people of Bharat do know about the birthday of Shiva. Shiva is the Supreme Father, the Supreme Soul, the Father of all souls. He definitely comes because there are also temples to Shiva. Many temples have been built to Him. Just as there was only one Christ, and countless physical images of him have been created as memorial to him, so those are temples to the Supreme Father, the Supreme Soul, the One called the Purifier. This is now the gathering of the impure world and there will then be the gathering of the pure world. He does not come into the pure world. The gathering in the pure world will be a very small and happy one. This is why there is no need for Him to come there. He has to come into a large gathering. He is called the Purifier. This is the impure world and then there is also the pure world. There would surely be fewer people in that new world. You children do true service, numberwise, according to the effort you make. The proof of true service also becomes apparent. So the Father has come into the gathering. He is the Purifier of the impure. It is said: “Charity begins at home.” Bharat is the eternal birthplace of the eternal Father. People have forgotten when Shiv Baba came. He is called the Purifier and He enters an impure body. His praise is so great: Salutations to Shiva. Your praise is also limitless. How does He establish heaven, the heaven that is given limitless praise? Only you children know this and you are making effort to go to such a Paradise. However, your efforts seem to be very cold and at the pace of an ant. Maya continues to catch hold of some by their nose and some by their ears. She doesn’t leave anyone alone. You do realise that you should remember Shiv Baba constantly, just as a wife remembers her husband. This Baba is the Husband of all husbands. So, how much you should remember such a Baba! How much you should praise such a Baba! People sing so much praise of Shiv Baba in songs etc: Your praise is limitless. Why is so much praise sung of Him? There must be a reason for this. You know that the Father alone is the one who makes Bharat into heaven. He makes Bharat so elevated. Ravan then makes it degraded. The Father comes and makes you happy. He makes hell into heaven. No one knows that Father. The whole world is impure. Although there is happiness etc. in the Ashoka Hotel (hotel without sorrow), all of that is temporary. This kingdom is like a mirage. The happiness here is not even worth a penny. There is nothing but sorrow. In the golden age, the king, queen and subjects all remain very happy. Now they are all very unhappy. People take so many bribes. People commit so many sins. Bharat was the community of deities. You now know that the praise of Bharat was very great. People also sing praise of God. They remember Him but they do not know Him. Oh! but since you speak of God, you should know His full name. His name is Shiva. All the praise belongs to Him. People do not know His name, form, land or time. They say that He doesn’t have a name or form. They say that the Supreme Father, the Supreme Soul, lives in the supreme abode. They even speak of His name, form and land, but, because of being body conscious, they do not remember Him. Even if they do remember Him, it is without any understanding. They sing: You are the Mother and Father. You can explain that they have physical mothers and fathers. So, which Mother and Father are they referring to in that song? Only you understand how the Father creates the world, how He creates the mouth-born children and how He gives them their fortune of the kingdom. Only you know this; no one else knows it, but you are also numberwise in this. You understand that Shiv Baba comes and teaches you through the body of Brahma. There is such great praise of Shiv Baba alone. He teaches us Raja Yoga through Brahma and makes us into the masters of heaven. It is surely Saraswati and Brahma who will first become Lakshmi and Narayan. The World Mother and the World Father are sitting here; it is they who will become the masters of the world. There are also kumars and kumaris with them. This Dilwala Temple has been built so beautifully. Those temples etc. were built earlier. We are now able to compare ourselves with them because those temples are our complete memorials. You should definitely keep the song ‘Salutations to Shiva’. You should keep two to four first-class songs. This Baba tells you his experience: Although my heart wants to eat in remembrance of Baba, I forget. That One says: I am beyond experiencing anything. It doesn’t occur to Him whether something is good or bad. The Father says: I only come in order to make you children pure from impure because Ravan has conquered you. You now have to gain victory over him again. Ravan makes you like shells and bankrupts you. Bharat is now bankrupt and I am now making you solvent. It is the intellects of human beings that become insolvent. So this song: “Salutations to Shiva” is very good. His praise is number one. There is also the praise of Bharat. Bharat was wonderful. They also sing: Bharat was heaven and there were palaces of gold and diamonds there. So where did they go? How did Maya enter you? In the golden age, the religion and the actions of the deities were elevated. Maya, who inspires you to do corrupt things, doesn’t exist there. You will reap your reward there for the effort you make here. There is no question there of anything causing you sorrow and there is no need to commit sin. Here, people commit so many sins for the sake of money. There, you have a great deal of wealth. It is an unlimited kingdom. It is sung that Bharat was the land of divine kings. When there was the land of divine kings, the religion of the deities was elevated. The Father has come and is creating the elevated deity religion. You understand that you are becoming elevated and that you mustn’t do anything sinful. There should be fear of committing sin. Maya catches hold of very good children by the nose and makes them commit sin. You know that the Father has now come into this gathering and that He creates the mouth-born children and makes them elevated. He definitely has to take a body on loan. He says: I enter an ordinary body. This one doesn’t know his own births, and so I tell him. I have given him the name Brahma. I only enter Brahma, because I have to carry out establishment through Brahma. It is not that I enter a Buddhist, a Muslim or a Sikh. The Father says: I have to enter the body of the one who was the sun-dynasty Shri Narayan at the beginning and I make him that again. He does not know his own births. This is the path of knowledge. It is the Father who gives this knowledge. Then there will be no trace or mention of the path of devotion. It is said: The path of knowledge and the path of devotion. For half a cycle there is devotional activity and for half a cycle there is the activity of knowledge. It is also fixed in the drama for everyone to become impure. Very good secrets are being revealed to you children. It is remembered that God comes and takes the devotees back with Him. They remember the Supreme Father, the Supreme Soul: Baba, come and free us from the chains of Maya! Liberate us! He liberates all your friends and relatives. There, you souls will have divine mothers and fathers. You will become deities. All of you souls will also become pure. You souls are now impure and are becoming pure again. On the path of devotion there are all sorts of images of those who have no occupation. It is as though they worship dolls. I am neither a male doll nor a female doll. I am incorporeal anyway. Human beings are male and female dolls; I do not become that. I am known as the incorporeal One. You male and female dolls are very unhappy now. When you were in Paradise, you were very happy. The praise of that happiness is limitless, but some children repeatedly forget this and start sulking. Many of the Brahmins also sulk. By sulking, they abandon their inheritance. Ah! but you have to claim your inheritance from the Father. This study is that of the imperishable jewels of knowledge. Baba has explained very clearly. If you cannot go to a centre, you can at least ask for the murlis to be sent to you and read them. There is no harm in that. However, you have to make effort to do service and give the proof of it. If there is no proof of service, what would be achieved by sending you murlis? Murlis are studied for knowledge to be imbibed. If you listen to it through one ear and let it out of the other, what can be done? Some do not even remember Baba. When anyone commits a sin, the intellect becomes locked. The Father doesn’t do anything. The Father simply explains: You have to become very sweet. You must not cause sorrow for anyone. At the end, you children will become very sweet, like the Father. However, you have to make effort. Ask your heart: Do I trouble anyone? Is anyone upset with me? Those outside will become very upset. You, the decoration of the Brahmin clan, definitely have to listen to the murli every day. If you do not listen to the murli, how would you imbibe it? If you do not listen to the murli you are considered to be unfortunate. You should never stop listening to the murli. Brahmin teachers also receive Shiv Baba’s murli, and so you have to stay in connection with them. You can receive the murli directly, but you also have to make others similar to yourself and give the proof of that. Continue to remember the Father and continue to remind others of the Father. Give your news to the Father so that He knows. Otherwise, how could it be known that you’re doing the Father’s service? Proof of service is definitely needed. You need to have an interest in becoming a murlidhar. The tape recorders also become murlidhars; they are able to relate the murli accurately. You cannot do that. So, what should you do? In order to benefit others, you could give them a tape recording machine. If many people listen to the tape recorder, the one who gave it will receive a lot of fruit. However, only those who understand the significance of this will buy one and give it to them. You can claim a royal status by listening to the murli. Would you become the masters of heaven by listening to the lectures of others? You would not be able to become deities from ordinary human beings. By your giving this first-class donation, many can receive benefit for 21 births. To purchase a tape recorder and donate it or to purchase a building and donate it is very good service. It is the children who would sit and do service. The building would remain yours, but you would receive the fruit of its use. In return for that, you will receive huge palaces there. The time will come when you children will be offered many buildings and people will continually bow down at your feet. What would we do with those buildings then? We simply want to do service. Why should we accept a building and then have to spend money on it? This Businessman is clever. He is such a sensible Businessman. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, the lucky stars of knowledge, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While remaining in the body, break your connections with everyone and make effort to become bodiless. Make your intellect forget everything of the world.
  2. Make effort and give the proof of your service. Listen to the murli and also study it so that you can imbibe it. You mustn’t allow it to go in one ear and out of the other.
Blessing: May you go fast in service and claim a first number with the speciality of being a humble instrument and thereby become an embodiment of success.
While moving forward in service, if you are aware of the speciality of being a humble instrument, you will then become an embodiment of success. Just as you are clever in running around for service, in the same way, become clever in these two specialities and you will go fast in service and come first by doing this. Do service while staying within the line of the codes of conduct of Brahmin life and considering yourself to be a spiritual server and you will become an embodiment of success. You will not have to labour.
Slogan: Those who constantly imbibe jewels of knowledge with their intellects are true holy swans.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 9 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 August 2018

To Read Murli 8 August 2018 :- Click Here
09-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप आये हैं कलियुग की महफिल में, यह बहुत बड़ी महफिल है, इस महफिल में तुम परवाने शमा पर फिदा हो पावन बनते हो”
प्रश्नः- यदि बच्चों का पुरुषार्थ अब तक भी चींटी मार्ग का है तो उसका कारण क्या?
उत्तर:- कई बच्चों में रूठने की आदत है, बाप से रूठकर पढ़ाई छोड़ देते हैं तो माया नाक-कान से पकड़ लेती है इसलिए पुरुषार्थ आगे नहीं बढ़ता। चींटी मार्ग का ही रह जाता है। बच्चों को मुरलीधर बनने का शौक चाहिए। सुनकर औरों को सुनाना है। रिज़ल्ट देनी है। जो बच्चे मुरली मिस करते हैं, जिन्हें पढ़ाई का कदर नहीं, वह कभी बख्तावर नहीं बन सकते।
गीत:- महफिल में जल उठी शमा…….. 

ओम् शान्ति। परमपिता परमात्मा शिव को शमा भी कहते हैं। नाम बहुत डाल देते हैं तो मनुष्य मूंझ गये हैं। आत्मा भी ज्योति स्वरूप है। अब तुम जागती ज्योत बन रहे हो। शमा आई है। यह महफिल तो बहुत बड़ी है। कोई तो आकर बाप का बनते हैं। बाप का बन जीते जी फिदा हो जाते हैं। देह-अभिमान छोड़ा तो आप मुये मर गई दुनिया। आप कौन? आत्मा। आत्मा शरीर को छोड़ देती है। तो सारी दुनिया उनके लिए जैसे मर गई। अभी बाप भी कहते हैं – अपने को आत्मा समझो। हम तो बाप के हैं। शरीर का भान मिटा देना है। मनुष्य मरते हैं तो देह सहित सब कुछ भूल जाते हैं। समझते हैं शरीर छोड़ा तो तैलुक टूटा। शरीर के साथ ही तैलुक (नाता) है। तुम शरीर होते हुए अशरीरी रहते हो क्योकि तुम्हारा तैलुक अब बाप से हो गया। तुमको राजयोग सिखलाने लिए बाप ने भी शरीर धारण किया है। महफिल में आये हैं। तुम्हारे में भी कोई पूरा जानते हैं कोई अधूरा, कोई तो कुछ नहीं जानते। बाप कहते हैं मैं इस रचना में आया हुआ हूँ। यह बातें मनुष्य ही समझेंगे। भारतवासी जानते हैं शिव जयन्ती भी है। शिव है परमपिता परमात्मा, सभी आत्माओं का बाप। वह आते हैं जरूर, मन्दिर भी हैं। मन्दिर तो ढेर बनते हैं। जैसे क्राइस्ट तो एक था, उनकी यादगार में जड़ चित्र कितने ढेर बनाये हैं। यह भी परमपिता परमात्मा, जिनको पतित-पावन कहते हैं, उनके मन्दिर हैं।

यह है अभी पतित दुनिया की महफिल, फिर होगी पावन दुनिया की महफिल। पावन दुनिया में तो वह आते नहीं। पावन दुनिया की महफिल बहुत छोटी होती और सुखी होते हैं इसलिए वहाँ आने की दरकार नहीं। आना है बड़ी महफिल में। उनका नाम ही है पतित-पावन। यह है पतित दुनिया, फिर पावन दुनिया भी है। उसी नई दुनिया में जरूर थोड़े होंगे। तुम बच्चों में नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार सच्ची-सच्ची सर्विस करते हैं। सच्चाई की सर्विस का सबूत भी निकलता है। तो बाप महफिल में आये हैं। वह है पतितों को पावन बनाने वाला। कहा जाता है चैरिटी बिगन्स एट होम। भारत अविनाशी बाप का अविनाशी बर्थ प्लेस है। मनुष्य भूल गये हैं – शिवबाबा कब आया था? उनको ही पतित-पावन कहा जाता है। आते भी हैं पतित शरीर में। उनकी महिमा कितनी भारी है – शिवाए नम:। तुम्हारी महिमा भी अपरमअपार है। वैकुण्ठ की कैसे स्थापना करते हैं, जिस वैकुण्ठ की भी महिमा अपरमअपार है। तुम बच्चे ही यह जानते हो और ऐसे वैकुण्ठ में जाने लिए पुरुषार्थ करते हो। परन्तु तुम्हारा पुरुषार्थ बड़ा ठण्डा चींटी मार्ग का देखते हैं।

माया किसको कान से, नाक से पकड़ती रहती है। किसको भी छोड़ती नहीं है। सोचते भी हैं ऐसे शिवबाबा को निरन्तर याद करें। जैसे पत्नि पति को कितना याद करती है, यह तो पतियों का पति है, बाबा है। ऐसे बाबा को कितना याद करना चाहिए, ऐसे बाबा की हम कितनी महिमा गायें, गीत आदि में भी शिवबाबा की कितनी महिमा करते हैं। तेरी महिमा अपरमअपार है। इतनी महिमा क्यों गाई जाती, कोई कारण तो होगा ना। तुम जानते हो बाप ही भारत को स्वर्ग बनाते हैं। भारत को कितना ऊंच बनाते हैं। रावण फिर नीच बना देते हैं। बाप आकर सुखी बनाते हैं। दोज़क से बहिश्त बना देते हैं। ऐसे बाप को कोई जानते नहीं। पतित तो सारी दुनिया है। भल अशोका होटल के सुख आदि हैं परन्तु यह सब तो अल्पकाल के लिए हैं। यह है मृगतृष्णा समान राज्य। पाई का भी इसमें सुख नहीं, दु:ख ही दु:ख है। सतयुग में राजा-रानी तथा प्रजा कितने सुखी रहते हैं। अभी तो कितना दु:खी हैं। कितनी रिश्वत खाते, कितने पाप आदि करते हैं। भारत दैवी सम्‍प्रदाय था। भारत की महिमा बड़ी जबरदस्त है, जो अब तुम जानते हो। भगवान् की महिमा गाते हैं। याद करते हैं परन्तु जानते नहीं। अरे, भगवान् कहते हो तो भगवान् का पूरा नाम चाहिए ना! उनका नाम है शिव। उनकी सारी महिमा है। मनुष्य उनके नाम, रूप, देश, काल को जानते नहीं। कह देते उनका नाम, रूप है नहीं। कहते भी हैं परमपिता परमात्मा परमधाम का रहने वाला है। नाम, रूप, देश बतलाते भी हैं परन्तु देह-अभिमान होने कारण उनको याद नहीं करते हैं। याद करते भी हैं तो बिगर समझ। गाते हैं तुम मात-पिता…….। तुम समझा सकते हो लौकिक मात-पिता तो है ना, फिर यह कौन से मात-पिता हैं? पिता कैसे सृष्टि को रचते हैं, कैसे मुख वंशावली रच उन्हीं को राज्य-भाग्य देते हैं – सो तो तुम ही जानों, और न जाने कोई। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं। तुम समझते हो शिवबाबा ब्रह्मा तन से आकर पढ़ाते हैं। शिवबाबा की ही इतनी भारी महिमा है। ब्रह्मा द्वारा राजयोग सिखाकर हमको बैकुण्ठ का मालिक बनाते हैं। जरूर ब्रह्मा-सरस्वती पहले-पहले जाकर लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। जगत अम्बा और जगत पिता बैठे हैं। वही विश्व के मालिक बनेंगे। उनके साथ कुमार-कुमारियां भी हैं। यह देलवाड़ा मन्दिर कितना अच्छा बना हुआ है। यह मन्दिर आदि तो पहले के बने हुए हैं। अभी हम भेंट करते हैं। हमारे ही यादगार का पूरा यह मन्दिर है।

तो यह शिवाए नम: गीत तो जरूर रखना चाहिए। दो-चार गीत फर्स्ट क्लास रख लेने चाहिए। यह बाबा अपना अनुभव बतलाते हैं – दिल होती है बाबा की याद में रहकर खायें परन्तु भूल जाते हैं। वो तो कहते हैं मैं अभोक्ता हूँ। उनको यह नहीं आता है कि यह अच्छा है वा बुरा है। बाप कहते हैं मैं आता ही हूँ तुम बच्चों को पतित से पावन बनाने क्योंकि रावण ने तुम्हारे ऊपर जीत पहन ली है। अब फिर उस पर जीत पानी है। रावण तुमको कौड़ी जैसा बनाकर देवाला निकाल देते हैं। भारत का अब देवाला है ना। फिर तुमको सालवेन्ट बनाता हूँ। इनसालवेन्ट बुद्धि मनुष्य ही बनते हैं। तो यह शिवाए नम: का गीत बड़ा अच्छा है, नम्बरवन उनकी महिमा है। फिर भारत की भी महिमा है। वन्डरफुल भारत था। गाते तो हैं ना – स्वर्ग था। हीरे-जवाहरों के महल थे। फिर वह कहाँ गये? माया की कैसे प्रवेशता हुई? सतयुग में देवी-देवतायें धर्म श्रेष्ठ, कर्म श्रेष्ठ थे। भ्रष्ट कर्म कराने वाली माया वहाँ होती नहीं। और यहाँ के पुरुषार्थ की प्रालब्ध तुम पाते हो। तुमको कोई दु:ख होने की बात ही नहीं। पाप करने की दरकार नहीं। यहाँ तो पैसे के लिए कितने पाप करते हैं। वहाँ तो बहुत धन रहता है। बेहद की राजाई है ना। गाया जाता है भारत दैवी राज-स्थान था। जब दैवी राजस्थान था तो देवी-देवताओं का धर्म श्रेष्ठ था। बाप आकर श्रेष्ठ देवी-देवता धर्म की स्थापना कर रहे हैं। तुम जानते हो हम श्रेष्ठ बन रहे हैं, तो कोई पाप का काम नहीं करना है। डर रहना चाहिए। अच्छे-अच्छे बच्चों को माया नाक से पकड़ पाप करा देती है। अभी तुम जानते हो महफिल में बाप आये हैं, कैसे मुख वंशावली बनाए उनको श्रेष्ठ बनाते हैं। जरूर शरीर को तो लोन लेना ही पड़े। कहते हैं मैं साधारण तन में आता हूँ। यह अपने जन्मों को नहीं जानते, मैं बतलाता हूँ। इनका नाम ब्रह्मा रख दिया है। ब्रह्मा में ही प्रवेश करता हूँ क्योंकि ब्रह्मा द्वारा स्थापना करनी है। ऐसे थोड़ेही बौद्धी, इस्लामी वा सिक्ख में प्रवेश करेंगे। बाप कहते हैं मुझे उस तन में प्रवेश करना है, जो पहले-पहले सूर्यवंशी श्री नारायण था फिर उनको ही बनाता हूँ। यह अपने जन्मों को नहीं जानते हैं। यह है ज्ञान काण्ड। ज्ञान बाप ही देते हैं। फिर वहाँ भक्ति का नाम-निशान नहीं। ज्ञान मार्ग, भक्ति मार्ग कहा जाता है। आधाकल्प भक्ति काण्ड आधाकल्प ज्ञान काण्ड चलता है। यह भी ड्रामा में नूँध है। पतित बनना ही है। बच्चों को अच्छे-अच्छे राज़ समझाये जाते हैं। गाते भी हैं भगवान् आकर भक्तों को साथ ले जाते हैं। परमपिता परमात्मा को याद करते हैं – बाबा आओ, माया रूपी जंजीरों से आकर छुड़ाओ, हमको लिबरेट करो। जो भी मित्र-सम्बन्धी आदि हैं सबको लिबरेट करते हैं। फिर वहाँ दैवी माँ-बाप मिलेंगे। तुम देवी-देवता बन जायेंगे। तुम्हारी आत्मा भी प्योर हो जायेगी। अभी तुम्हारी आत्मा पतित बनी है, सो फिर पावन बनेगी। अनेक प्रकार के चित्र हैं, जिसका आक्यूपेशन कुछ भी नहीं। जैसे गुड़ियों की पूजा करते हैं। मैं न गुड्डा हूँ, न गुड्डी हूँ, मैं तो हूँ ही निराकार। गुड्डा और गुड्डी मनुष्य हैं, मैं नहीं बनता हूँ। मुझे निराकार ही कहते हैं। तुम गुड्डे-गुड्डी अभी बहुत दु:खी हो, बैकुण्ठ में तुम बहुत सुखी थे। सुख की महिमा अपरमअपार है। परन्तु बच्चे घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं, रूठ पड़ते हैं। ब्राह्मणों में से भी बहुत रूठते हैं। रूठकर वर्सा पाने को ही छोड़ देते हैं। अरे, तुमको वर्सा बाप से लेना है ना! यह हैं अविनाशी ज्ञान रत्न, पढ़ाई है। बाबा ने बड़ा सहज समझाया है। भल तुम कहाँ नहीं आ सकते हो, अच्छा, मुरली तो मंगाकर पढ़ सकते हो। इसमें ऩुकसान की कोई बात नहीं है। बाकी हाँ, पुरुषार्थ कर सर्विस का सबूत देना है। सर्विस का सबूत ही नहीं तो मुरली भेजकर क्या करेंगे? मुरली पढ़ी जाती है धारण करने के लिए। अगर एक कान से सुन दूसरे से निकाल देते हैं तो फिर क्या कर सकेंगे? बाबा को याद ही नहीं करते हैं। कोई पाप करते हैं तो बुद्धि का ताला बन्द हो जाता है। बाप कुछ नहीं करते हैं। बाप तो समझाते हैं – तुमको बहुत मीठा बनना है, कोई को दु:खी मत करो। अन्त में तुम बच्चे बहुत मीठा, बाप जैसे बन जायेंगे। पुरुषार्थ करना है। दिल से पूछना है – किसको तंग तो नहीं करते हैं? हमसे कोई नाराज़ तो नहीं होते? यूँ बाहर वाले तो बहुत नाराज़ होंगे।

तुम ब्राह्मण कुल भूषणों को मुरली रोज़ जरूर सुननी चाहिए। मुरली नहीं सुनेंगे तो धारणा कैसे होगी? मुरली नहीं सुनते हैं तो जरूर समझो – वह बख्तावर नहीं। मुरली को कभी छोड़ना नहीं चाहिए। ब्राह्मणियों को भी मुरली शिवबाबा से मिलती है ना। उनसे कनेक्शन रखना है। डायरेक्ट मुरली तो भेजें लेकिन फिर आप समान भी बनाकर तो दिखाओ। बाप को याद करते रहो। बाप की याद औरों को दिलाते रहो। समाचार दो तो पता पड़े। नहीं तो कैसे समझेंगे कि बाप की सर्विस कर रहे हो? सबूत जरूर चाहिए सर्विस का। मुरलीधर बनने का शौक चाहिए। टेप्स भी मुरलीधर बनती हैं ना। यह एक्यूरेट मुरली सुना सकती है। तुम नहीं सुना सकेंगे। तो क्या करना चाहिए? औंरों के कल्याण के लिए टेप रिकॉर्ड मशीन लेकर देनी चाहिए। इतने सब सुनेंगे तो उन सबका फल देने वाले को बहुत मिलेगा। ले करके देंगे भी वह जिनको इसके रहस्य का पता होगा। इस मुरली सुनने से तुम राजाई पद पाते हो। और कोई का भाषण सुनने से स्वर्ग का मालिक बनेंगे क्या? अथवा मनुष्य से देवता थोड़ेही बनेंगे। यह तो फर्स्टक्लास दान करना है, जिससे 21 जन्मों के लिये बहुतों का कल्याण होता है। टेप रिकॉर्ड लेकर देना वा मकान लेकर देना कितनी अच्छी सर्विस है। बच्चे बैठ सर्विस करेंगे। मकान फिर भी तुम्हारा ही रहेगा, उसका फल तुमको मिलेगा। वहाँ रिटर्न में बड़े-बड़े महल मिल जायेंगे। वह समय आयेगा जो तुम बच्चों को तो बहुत मकान मिलेंगे। चरणों मे झुकते रहेंगे। मकान भी हम क्या करेंगे? हमको तो सिर्फ सर्विस करनी है। मकान लो फिर मुफ्त में पैसा भरकर क्यों दो – सौदागर भी तो यह पक्का है। सेन्सीबुल सौदागर है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे लक्की ज्ञान सितारों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) शरीर में होते सबसे तैलुक (नाता) तोड़ अशरीरी बनने का पुरुषार्थ करना है। बुद्धि से सब कुछ भूल जाना है।

2) पुरुषार्थ कर सर्विस का सबूत देना है। मुरली सुननी व पढ़नी है – धारण करने के लिए। एक कान से सुन दूसरे से निकालना नहीं है।

वरदान:- निमित्त और नम्रचित की विशेषता द्वारा सेवा में फास्ट और फर्स्ट नम्बर लेने वाले सफलतामूर्त भव
सेवा में आगे बढ़ते हुए यदि निमित्त और नम्रचित की विशेषता स्मृति में रहती है तो सफलता स्वरूप बन जायेंगे। जैसे सेवाओं की भाग-दौड़ में होशियार हो ऐसे इन दो विशेषताओं में भी होशियार बनो, इससे सेवा में फास्ट और फर्स्ट हो जायेंगे। ब्राह्मण जीवन की मर्यादाओं की लकीर के अन्दर रहकर, स्वयं को रूहानी सेवाधारी समझकर सेवा करो तो सफलतामूर्त बन जायेंगे। मेहनत नहीं करनी पड़ेगी।
स्लोगन:- जो बुद्धि द्वारा सदा ज्ञान रत्नों को धारण करते हैं वही सच्चे होलीहंस हैं।
Font Resize