8 september ki murli

TODAY MURLI 8 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 8 September 2020

08/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, put your hand on your heart and ask yourself: Did I know previously all the things that Baba is now explaining to me? Understand the meaning of what you hear now and remain happy.
Question: What is the greatest strength of your Brahmin religion and how?
Answer: Your Brahmin religion is such that the whole world receives salvation on the basis of the shrimat you follow. It is Brahmins who make the whole world peaceful. You, the decoration of the Brahmin clan, are more elevated than the deities. You receive this strength from the Father. You Brahmins become the Father’s helpers; you receive the biggest prize. You not only become the masters of Brahmand but you also become the masters of the world.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you sweetest spiritual, long-lost and now-found, children. You spiritual children understand that the spiritual Father definitely only comes once every 5000 years. The name “cycle” has to be used. The age of this drama, that is, this cycle of the world, is 5000 years. Only the one Father sits here and explains these things. You would never hear this from the mouth of a human being. You spiritual children who are sitting here know that the spiritual Father of all of you souls is that One. The Father whom no human being knows sits here and gives you children His introduction. No one knows who God or Ishwar is. Since they call Him God, the Father, there should be so much love for Him. He is the unlimited Father, so you must definitely be receiving the inheritance from him. Very good English words, “Heavenly God, the Father“, are used. The new world is called heaven and the old world is called hell. However, no one knows heaven. Sannyasis don’t believe in it. They never say that the Father is the Creator of heaven. The words “Heavenly God, the Father” are very sweet and heaven is also famous. The cycle of heaven and hell, the beginning, the middle and the end of the world, turns around in the intellects of you children. That is, it turns around in the intellects of those who are serviceable. Not everyone becomes serviceable to the same extent. You are once again establishing your kingdom. You say: We spiritual children are following the Father’s most elevated directions. It is the shrimat of the highest-on-high Father. The Shrimad Bhagawad Gita is remembered; this is the number one scripture. On hearing the Father’s name, one immediately remembers the inheritance. No one in the world knows what is received from God, the Father. The words “ancient yoga” are used, but no one understands who taught this ancient yoga. They say that it was Krishna, because it is Krishna’s name that has been mentioned in the Gita. You now understand that the Father taught you Raja Yoga through which you all attained liberation and liberation-in-life. You also understand that it was in Bharat where Shiv Baba came. His birthday is celebrated too but, because His name has vanished from the Gita, His praise has also vanished. They have forgotten the Father from whom the whole world receives happiness and peace. This is called the play of just the one mistake. The biggest mistake is that they don’t know the Father. Sometimes, they say that He is beyond name and form, or they say that He has incarnated in a fish or a crocodile or in the pebbles and stones. They continue to make mistake after mistake. They continue to come down the ladder. Their degrees continue to decrease. They continue to become tamopradhan. According to the dramaplan, the Father, who is the Creator of heaven, the One who made Bharat into the master of heaven, has been said to be in the pebbles and stones. The Father now explains how you have continued to come down the ladder. No one knows anything; they continue to ask what the drama is. When was this world created? When you ask them: “When did the new world come into existence?”, they reply, “Hundreds of thousands of years ago.” They think that the old world still has many years to go. That is called the darkness of ignorance. It is remembered: The Satguru gave the ointment of knowledge and the darkness of ignorance was dispelled. You understand that the Father, the Creator, definitely creates heaven. Only the Father comes and changes hell into heaven. Only the Father, the Creator, comes and gives you the knowledge of the beginning, middle and end of the world. He only comes at the end. This takes time, of course. It has also been explained to you children that knowledge doesn’t take as much time as the pilgrimage of remembrance. The account of 84 births is just like a story: Whose kingdom was it 5000 years ago? Where did that kingdom go? You children now have the whole knowledge. You are very ordinary. He makes sinners like Ajamil and those who have stone intellects, the hunchbacked and the natives, very elevated. The Father explains what you have become from what you were. The Father comes and tells you to look at the state that the old world has now reached. Human beings don’t know anything of how the world cycle turns. The Father says: Put your hand on your heart and ask yourself whether you knew any of this before. Nothing at all! You now know that Baba has come once again to give us the sovereignty of the world. It doesn’t enter anyone’s intellect what the sovereignty of the world is. The world means the whole world. You know that the Father gives us such a kingdom that, for half a cycle, no one can snatch it away from us. Therefore, you children should have so much happiness. You have claimed the kingdom from the Father so many times. The Father is the Truth. He is the true Teacher. He is also the Satguru. You had not heard this before. You now understand the meaning of this. You are His children, so you should be able to remember the Father. Nowadays, they adopt a guru in their childhood. They make pictures of their gurus and wear it around their necks or they keep one at home. Here, the wonder is that the Father, the Teacher and the Satguru are all one. The Father says: I will take you back home with Me. When you are asked, “What do you study?” tell them: We are studying Raja Yoga in order to claim the kingdom of the new world. Just as there is barrister yoga, so this is Raja Yoga. Their intellects would definitely be in yoga with a barrister; they would definitely remember their teacher. You say that you are studying in order to attain the kingdom of heaven. Who is teaching us? God, Father Shiva. He only has one name which has continued. That name is not the chariot’s name. My name is Shiva. You say “Father Shiva” and “Brahma, the chariot”. You now know how wonderful this is. The body is one. Why is he called “The Lucky Chariot”? Because Shiv Baba entered him. There are definitely two souls. Only you know this; no one else would even think of it. They depict The Lucky Chariot (Bhagirath) bringing the Ganges. Was it water that was brought? You can now see in a practical way who brings it and what it is He brings (knowledge). Who has entered this body? It is the Father who has entered it. Water would hardly enter a human being. Water would hardly emerge from the locks of someone’s hair. Human beings never think about these things. It is said, “Religion is might”. There is might in religion. Say which religion has the most strength! (The Brahmin religion). Yes, that’s right. Whatever strength there is, it is the Brahmin religion that has it. No other religion has any strength. You are now Brahmins. You Brahmins receive power from the Father through which you become the masters of the world. You have so much power. You say that you belong to the Brahmin religion. This will not sit in anyone’s intellect. Although the variety form image has been created, it is incomplete. The main thing is that no one knows the Creator or His first creation. The Father is the Creator and Brahmins are the topknot. There is strength in this. Just by remembering the Father you receive strength. Children are definitely numberwise, are they not? You are the decoration of the most elevated Brahmin clan in this world. You are more elevated than the deities. You now receive power. The greatest strength is in the Brahmin religion. What do Brahmins do? They make the whole world peaceful. Your religion is such that it liberates everyone on the basis of the shrimat you follow. This is why the Father says: I make you even more elevated than I am. You become the masters of Brahmand and also the masters of the world. You will rule over the whole world. They sing, “Bharat is our country.” Sometimes, they sing songs of praise and, at other times, they say, “Look at the state Bharat has become.” They don’t know when Bharat was that elevated. Human beings believe that heaven and hell are both here together. Those who have wealth and cars etc. think that they’re in heaven. They don’t understand that it is the new world that is called heaven. Everything has to be learnt here. The skills of science will be useful later on there. Science gives happiness there. There is temporary happiness through all the things here. There, it will become permanent happiness for you children. Everything has to be learnt here so that those sanskars can be taken there. New souls will not go and learn them there. The children from here will learn science and go there. They will become very clever. They will take all the sanskars that will be useful there. Now, there is temporary happiness. These bombs etc. will destroy everything. How can there be the reign of peace without death. Here, there is the kingdom of peacelessness. You also understand, numberwise, that you will first go home and then go to the land of happiness. The Father doesn’t enter the land of happiness. The Father says: I need an old chariot. On the path of devotion, I have been fulfilling everyone’s desires. The trance messengers have been shown how devotees carry out intense worship. They decorate the deities, worship them and then sink them in the sea. There is so much expense. Ask them: When did this begin? They reply that it has been going on since time immemorial. They wander around so much. All of that is the drama. The Father repeatedly explains to you children that He has come to make you very sweet. Those deities are so sweet. Human beings now are so bitter. Those who helped the Father a great deal previously continue to be worshipped. You are worshipped. You also claim an elevated status. The Father Himself says: I make you more elevated than I am. These are the elevated directions of the highest-on-high Father. You don’t say that these are Krishna’s directions. Even in the Gita, shrimat is very well known. Krishna claims his inheritance from the Father at this time. The Father has entered the chariot of the Krishna soul. This is such a wonderful thing! This never enters anyone’s intellect. It takes great effort for those who understand to explain this. The Father explains to you children so well. Baba writes: Brahmins, the most elevated, mouth-born creation of Brahma. If you do elevated service you receive this prize. If you become the Father’s helpers you all receive a prize, numberwise, according to the efforts you make. You have so much strength that you can make human beings into the masters of heaven. You are the spiritual army. If you don’t wear this badge, how would people understand that you are the spiritual military? Those in the military always wear a badge. Shiv Baba is the Creator of the new world. There, there was the kingdom of the deities; it doesn’t exist now. Therefore, the Father says: Manmanabhav! Forget your body and all your bodily relations and remember Me alone! You will then go into Krishna’s dynasty. There can be no question of shyness about this. You will remember the Father. The Father says of this one (Brahma) that he used to worship Narayan and kept a picture of Narayan with him. While walking and moving around, he kept looking at that picture. Now that you children have knowledge, you should definitely wear a badge. You are the ones who change ordinary humans into Narayan. You are the ones who teach Raja Yoga. You do the service of changing ordinary humans into Narayan. Check yourself: Do I have any defects? You children come to BapDada. The Father (Bap) is Shiv Baba; Dada is His chariot. The Father will definitely meet you through the chariot. You children come to the Father to be refreshed. When you sit in front of Him, it is easy to remember Him. Baba has come in order to take you back home. The Father is now sitting in front of you, so there should be more remembrance of Him. Every day you can also increase your pilgrimage of remembrance, even outside Madhuban. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Check yourself: Do I have any defects? Deities are very sweet. Have I become just as sweet?
  2. Follow the Father’s most elevated directions to establish your own kingdom. In order to become serviceable, make your intellect spin the knowledge of the beginning, middle and end of the world and of heaven and hell.
Blessing: May you be a world benefactor who gives everyone rays of peace and power on the basis of elevated feelings.
Just as there are always benevolent feelings and wishes in the Father’s thoughts and words, in the same way, let the thoughts of you children be filled with benevolent feelings and wishes for the world. While you are doing this work, let all the souls of the world emerge. Be a master sun of knowledge, and on the basis of your pure feelings and elevated wishes, continue to give rays of peace and power and you will then be said to be a world benefactor. However, for this, you must be free from all bondages and liberated.
Slogan: The consciousness of “I” and “mine” are doors to body consciousness. Now close these doors.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 8 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

08-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – अपनी दिल पर हाथ रखकर पूछो कि बाबा जो सुनाते हैं क्या हम सब पहले जानते थे, जो सुना है उसे अर्थ सहित समझकर खुशी में रहो”
प्रश्नः- तुम्हारे इस ब्राह्मण धर्म में सबसे अधिक ताकत है – कौन-सी और कैसे?
उत्तर:- तुम्हारा यह ब्राह्मण धर्म ऐसा है जो सारे विश्व की सद्गति श्रीमत पर कर देते हैं। ब्राह्मण ही सारे विश्व को शान्त बना देते हैं। तुम ब्राह्मण कुल भूषण देवताओं से भी ऊंच हो, तुम्हें बाप द्वारा यह ताकत मिलती है। तुम ब्राह्मण बाप के मददगार बनते हो, तुम्हें ही सबसे बड़ी प्राइज मिलती है। तुम ब्राह्माण्ड के भी मालिक और विश्व के भी मालिक बनते हो।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी सिकीलधे बच्चों प्रति रूहानी बाप बैठ समझाते हैं। रूहानी बच्चे जानते हैं रूहानी बाप एक ही बार हर 5 हज़ार वर्ष के बाद आते हैं जरूर। कल्प नाम रख दिया है जो कहना पड़ता है। इस ड्रामा की अथवा सृष्टि की आयु 5 हज़ार वर्ष है, यह बातें एक ही बाप बैठ समझाते हैं। यह कभी भी कोई मनुष्य के मुख से नहीं सुन सकते हैं। तुम रूहानी बच्चे बैठे हो। तुम जानते हो बरोबर हम सभी आत्माओं का बाप वह एक है। बाप ही बच्चों को बैठ अपना परिचय देते हैं। जो कोई भी मनुष्य मात्र नहीं जानते। कोई को पता नहीं गॉड वा ईश्वर क्या वस्तु है जबकि उनको गॉड फादर बाप कहते हैं तो बहुत प्यार होना चाहिए। बेहद का बाप है तो जरूर उनसे वर्सा भी मिलता होगा। अंग्रेजी में अक्षर अच्छा कहते हैं हेविनली गॉड फादर। हेविन कहा जाता है नई दुनिया को और हेल कहा जाता है पुरानी दुनिया को। परन्तु स्वर्ग को कोई जानते नहीं। सन्यासी तो मानते ही नहीं। वह कभी ऐसे नहीं कहेंगे कि बाप स्वर्ग का रचयिता है। हेविनली गॉड फादर – यह अक्षर बहुत मीठा है और हेविन मशहूर भी है। तुम बच्चों की बुद्धि में हेविन और हेल का सारा चक्र सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का बुद्धि में फिरता है, जो-जो सर्विसएबुल हैं, सभी तो एकरस सर्विसएबुल नहीं बनते।

तुम अपनी राजधानी स्थापन कर रहे हो फिर से। तुम कहेंगे हम रूहानी बच्चे बाप की श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ मत पर चल रहे हैं। ऊंच ते ऊंच बाप की ही श्रीमत है। श्रीमद् भगवद् गीता भी गाई हुई है। यह है पहले नम्बर का शास्त्र। बाप का नाम सुनने से ही झट वर्सा याद आ जाता है। यह दुनिया में कोई भी नहीं जानते कि गॉड फादर से क्या मिलता है। अक्षर कहते हैं प्राचीन योग। परन्तु समझते नहीं कि प्राचीन योग किसने सिखाया? वो तो कृष्ण ही कहेंगे क्योंकि गीता में कृष्ण का नाम डाल दिया है। अभी तुम समझते हो बाप ने ही राजयोग सिखाया, जिससे सब मुक्ति-जीवनमुक्ति को पाते हैं। यह भी समझते हो कि भारत में ही शिवबाबा आया था, उनकी जयन्ती भी मनाते हैं परन्तु गीता में नाम गुम होने से महिमा भी गुम हो गई है। जिससे सारी दुनिया को सुख-शान्ति मिलती है, उस बाप को भूल गये हैं। इनको कहा ही जाता है एकज़ भूल का नाटक। बड़े ते बड़ी भूल यह है जो बाप को नहीं जानते। कभी कहते वह नाम-रूप से न्यारा है फिर कहते कच्छ-मच्छ अवतार है। ठिक्कर-भित्तर में है। भूल में भूल होती जाती है। सीढ़ी नीचे उतरते जाते हैं। कला कम होती जाती है, तमोप्रधान बनते जाते हैं। ड्रामा के प्लैन अनुसार जो बाप स्वर्ग का रचयिता है, जिसने भारत को स्वर्ग का मालिक बनाया, उनको ठिक्कर-भित्तर में कह देते हैं। अभी बाप समझाते हैं तुम सीढ़ी कैसे उतरते आये हो, कुछ भी किसको पता नहीं है। ड्रामा क्या है, पूछते रहते हैं। यह दुनिया कब से बनी है? नई सृष्टि कब थी तो कह देंगे लाखों वर्ष आगे। समझते हैं पुरानी दुनिया में तो अभी बहुत वर्ष पड़े हैं, इसको अज्ञान अन्धियारा कहा जाता है। गायन भी है ज्ञान अजंन सतगुरू दिया, अज्ञान अन्धेर विनाश। तुम समझते हो रचयिता बाप जरूर स्वर्ग ही रचेंगे। बाप ही आकर नर्क को स्वर्ग बनाते हैं। रचयिता बाप ही आकर सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान सुनाते हैं। आते भी हैं अन्त में। टाइम तो लगता है ना। यह भी बच्चों को समझाया है ज्ञान में इतना समय नहीं लगता है, जितना याद की यात्रा में लगता है। 84 जन्मों की कहानी तो जैसे एक कहानी है, आज से 5 वर्ष पहले किन्हों का राज्य था, वह राज्य कहाँ गया?

तुम बच्चों को अब सारी नॉलेज है। तुम हो कितने साधारण अजामिल जैसे पापी, अहिल्यायें, कुब्जायें, भीलनियाँ उनको कितना ऊंच बनाते हैं। बाप समझाते हैं – तुम क्या से क्या बन गये हो। बाप आकर समझाते हैं – पुरानी दुनिया का अब हाल देखो क्या है? मनुष्य कुछ भी नहीं जानते कि सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है? बाप कहते हैं तुम अपनी दिल पर हाथ रखकर पूछो-आगे यह कुछ जानते थे? कुछ भी नहीं। अभी जानते हो बाबा फिर से आकर हमको विश्व की बादशाही देते हैं। कोई की बुद्धि में नहीं आयेगा कि विश्व की बादशाही क्या होती है। विश्व माना सारी दुनिया। तुम जानते हो बाप हमको ऐसा राज्य देते हैं जो हमसे आधाकल्प तक कोई छीन नहीं सकते। तो बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। बाप से कितना बार राज्य लिया है। बाप सत्य है, सत्य शिक्षक भी है, सतगुरू भी है। कब सुना ही नहीं। अभी अर्थ सहित तुम समझते हो। तुम बच्चे हो, बाप को तो याद कर सकते हो। आजकल छोटेपन में ही गुरू करते हैं। गुरू का चित्र बनाए भी गले में डालते हैं वा घर में रखते हैं। यहाँ तो वन्डर है-बाप, शिक्षक, सतगुरू सब एक ही है। बाप कहते हैं मैं साथ में ले चलूँगा। तुमसे पूछेंगे क्या पढ़ते हो? बोलो, हम नई दुनिया में राजाई प्राप्त करने लिए राजयोग पढ़ते हैं। यह है ही राजयोग। जैसे बैरिस्टर योग होता है तो जरूर बुद्धि का योग बैरिस्टर तरफ जायेगा। टीचर को जरूर याद तो करेंगे ना। तुम कहेंगे हम स्वर्ग की राजाई प्राप्त करने के लिए ही पढ़ते हैं। कौन पढ़ाते हैं? शिवबाबा भगवान। उनका नाम तो एक ही है जो चला आया है। रथ का नाम तो है नहीं। मेरा नाम है ही शिव। बाप शिव और रथ ब्रह्मा कहेंगे। अभी तुम जानते हो यह कितना वन्डरफुल है, शरीर तो एक ही है। इनको भाग्यशाली रथ क्यों कहते हैं? क्योंकि शिवबाबा की प्रवेशता है तो जरूर दो आत्मायें ठहरी। यह भी तुम जानते हो और किसको तो यह ख्याल में भी नहीं आता। अब दिखाते हैं भागीरथ ने गंगा लाई। क्या पानी लाया? अभी तुम प्रैक्टिकल देखते हो – क्या लाया है, किसने लाया है? किसने प्रवेश किया है? बाप ने किया ना। मनुष्य में पानी थोड़ेही प्रवेश करेगा। जटाओं से पानी थोड़ेही आयेगा। इन बातों पर मनुष्य कभी ख्याल भी नहीं करते हैं। कहा ही जाता है – रिलीजन इज़ माइट। रिलीजन में ताकत है। बताओ, सबसे जास्ती किस रिलीजन में ताकत है? (ब्राह्मण रिलीजन में) हाँ यह ठीक है, जो कुछ ताकत है ब्राह्मण धर्म में ही है, और कोई रिलीजन में कोई ताकत नहीं। तुम अभी ब्राह्मण हो। ब्राह्मणों को ताकत मिलती है बाप से, जो फिर तुम विश्व के मालिक बनते हो। तुम्हारे में कितनी बड़ी ताकत है। तुम कहेंगे हम ब्राह्मण धर्म के हैं। किसकी बुद्धि में नहीं बैठेगा। विराट रूप भल बनाया है परन्तु वह भी आधा है। मुख्य रचता और उनकी पहली रचना को कोई नहीं जानते। बाप है रचता, फिर ब्राह्मण हैं चोटी, इसमें ताकत है। बाप को सिर्फ याद करने से ताकत मिलती है। बच्चे तो जरूर नम्बरवार ही बनेंगे ना। तुम इस दुनिया में सर्वोत्तम ब्राह्मण कुल भूषण हो। देवताओं से भी ऊंच हो। तुमको अब ताकत मिलती है। सबसे जास्ती ताकत है ब्राह्मण धर्म में। ब्राह्मण क्या करते हैं? सारी विश्व को शान्त बना देते हैं। तुम्हारा धर्म ऐसा है जो सर्व की सद्गति करते हैं श्रीमत द्वारा। तब बाप कहते हैं तुमको अपने से भी ऊंच बनाता हूँ। तुम ब्रह्माण्ड के भी मालिक, विश्व के भी मालिक बनते हो। सारे विश्व पर तुम राजाई करेंगे। अभी गाते हैं ना – भारत हमारा देश है। कभी महिमा के गीत गाते, कभी फिर कहते भारत की क्या हालत है……! जानते नहीं कि भारत इतना ऊंच कब था! मनुष्य तो समझते हैं स्वर्ग अथवा नर्क यहाँ है। जिसको धन मोटर आदि हैं, वह स्वर्ग में है। यह नहीं समझते स्वर्ग कहा ही जाता है नई दुनिया को। यहाँ सब कुछ सीखना है। साइंस का हुनर भी फिर वहाँ काम में आता है। यह साइंस भी वहाँ सुख देती है। यहाँ तो इन सबसे है अल्पकाल का सुख। वहाँ तुम बच्चों के लिए यह स्थाई सुख हो जायेगा। यहाँ सब सीखना है जो फिर संस्कार ले जायेंगे। कोई नई आत्मायें नहीं आयेंगी, जो सीखेंगी। यहाँ के बच्चे ही साइंस सीखकर वहाँ चलते हैं। बहुत होशियार हो जायेंगे। सब संस्कार ले जायेंगे फिर वहाँ काम में आयेंगे। अभी है अल्पकाल का सुख। फिर यह बॉम्ब्स आदि ही सबको खलास कर देंगे। मौत के बिगर शान्ति का राज्य कैसे हो। यहाँ तो अशान्ति का राज्य है। यह भी तुम्हारे में नम्बरवार हैं जो समझते हैं, हम पहले-पहले अपने घर जायेंगे फिर सुखधाम में आयेंगे। सुख में बाप तो आते ही नहीं। बाप कहते हैं मुझे भी वानप्रस्थ रथ चाहिए ना। भक्ति मार्ग में भी सबकी कामनायें पूरी करता आया हूँ। सन्देशियों को भी दिखाया है – कैसे भक्त लोग तपस्या पूजा आदि करते हैं, देवियों को सजाए, पूजा आदि कर फिर समुद्र में डुबो देते हैं। कितना खर्च होता है। पूछो यह कब से शुरू हुआ है? तो कहेंगे परम्परा से चला आया है। कितना भटकते रहते हैं। यह भी सब ड्रामा है।

बाप बार-बार बच्चों को समझाते हैं हम तुमको बहुत मीठा बनाने आये हैं। यह देवतायें कितने मीठे हैं। अभी तो मनुष्य कितने कड़ुवे हैं। जिन्होंने बाप को बहुत मदद की थी, उन्हों की पूजा करते रहते हैं। तुम्हारी पूजा भी होती है, पद भी तुम ऊंच प्राप्त करते हो। बाप खुद कहते हैं मैं तुमको अपने से भी ऊंच बनाता हूँ। ऊंच ते ऊंच भगवान की है श्रीमत। कृष्ण की तो नहीं कहेंगे। गीता में भी श्रीमत मशहूर है। कृष्ण तो इस समय बाप से वर्सा ले रहे हैं। कृष्ण की आत्मा के रथ में बाप ने प्रवेश किया है। कितनी वन्डरफुल बात है। कभी किसकी बुद्धि में आयेगा नहीं। समझने वालों को भी समझाने में बड़ी मेहनत लगती है। बाप कितना अच्छी रीति बच्चों को समझाते हैं। बाबा लिखते हैं सर्वोत्तम ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण। तुम ऊंच सर्विस करते हो तो यह प्राइज़ मिलती है। तुम बाप के मददगार बनते हो तो सबको प्राइज़ मिलती है – नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। तुम्हारे में भी बड़ी ताकत है। तुम मनुष्य को स्वर्ग का मालिक बना सकते हो। तुम रूहानी सेना हो। तुम यह बैज नहीं लगायेंगे तो मनुष्य कैसे समझेंगे कि यह भी रूहानी मिलेट्री है। मिलेट्री वालों को हमेशा बैज लगा हुआ होता है। शिवबाबा है नई दुनिया का रचयिता। वहाँ इन देवताओं का राज्य था, अब नहीं है। फिर बाप कहते हैं मनमनाभव। देह सहित सब सम्बन्ध छोड़ मामेकम् याद करो तो कृष्ण की डिनायस्टी में आ जायेंगे। इसमें लज्जा की तो बात ही नहीं। बाप की याद रहेगी। बाप इनके लिए भी बताते हैं यह नारायण की पूजा करते थे, नारायण की मूर्ति साथ में रहती थी। चलते फिरते उनको देखते थे। अभी तुम बच्चों को ज्ञान है, बैज तो जरूर लगा रहना चाहिए। तुम हो नर को नारायण बनाने वाले। राजयोग भी तुम ही सिखलाते हो। नर से नारायण बनाने की सर्विस करते हो। अपने को देखना है हमारे में कोई अवगुण तो नहीं है?

तुम बच्चे बापदादा के पास आते हो, बाप है शिवबाबा, दादा है उनका रथ। बाप जरूर रथ द्वारा ही मिलेंगे ना। बाप के पास आते हैं, रिफ्रेश होने। सम्मुख बैठने से याद पड़ती है। बाबा आया है ले जाने के लिए। बाप सम्मुख बैठे हैं तो जास्ती याद आनी चाहिए। अपनी याद की यात्रा को वहाँ भी तुम रोज़ बढ़ा सकते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने को देखना है कि हमारे में कोई अवगुण तो नहीं हैं! जैसे देवतायें मीठे हैं, ऐसा मीठा बना हूँ?

2) बाप की श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ मत पर चल अपनी राजधानी स्थापन करनी है। सर्विसएबुल बनने के लिए सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का, हेविन और हेल का ज्ञान बुद्धि में फिराना है।

वरदान:- श्रेष्ठ भावना के आधार से सर्व को शान्ति, शक्ति की किरणें देने वाले विश्व कल्याणकारी भव
जैसे बाप के संकल्प वा बोल में, नयनों में सदा ही कल्याण की भावना वा कामना है ऐसे आप बच्चों के संकल्प में विश्व कल्याण की भावना वा कामना भरी हुई हो। कोई भी कार्य करते विश्व की सर्व आत्मायें इमर्ज हों। मास्टर ज्ञान सूर्य बन शुभ भावना वा श्रेष्ठ कामना के आधार से शान्ति व शक्ति की किरणें देते रहो तब कहेंगे विश्व कल्याणकारी। लेकिन इसके लिए सर्व बन्धनों से मुक्त, स्वतंत्र बनो।
स्लोगन:- ”मैं पन और मेरा पन”, यही देह-अभिमान का दरवाजा है। अब इस दरवाजे को बन्द करो।

TODAY MURLI 8 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 8 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 7 September 2019:- Click Here

08/09/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
23/01/85

The divine eye is a gift for your divine birth.

Today, the Trikaldarshi Father is looking at His trikaldarshi and trinetri children. BapDada is looking at each one’s divine intellect and divine eye, which is also called the third eye, to see to what extent each one’s eye is clear and powerful, and what is the percentage of power of each child’s divine eye. BapDada has given all of you a 100% powerful divine eye as your birthday gift. Baba didn’t give numberwise powerful eyes, but all of you children are using your divine eye practically according to your own rules, your own precautions and according to how much attention you pay to it. This is why some people’s divine eye has full power whereas when it comes to others, the power of their divine eye is to a percentage. You have received this third eye, the divine eye, from BapDada. Just as nowadays, binoculars the invention of science, enable you to experience something at a distance to be close and clear, in the same way, a divine eye works like divine binoculars. In a second, you can reach the supreme abode, which is so far away. You cannot count how many miles away it is, yet it is very closely and clearly visible. The inventions of science only enable you to see as far as the sun, moon and stars of the physical world, but this divine eye is able to see the three worlds and the three aspects of time. This divine eye is also called the eye of experience. It is the eye of experience with which you can see everything of 5000 years as clearly as though it is a matter of yesterday. There is a vast difference between 5000 years and yesterday. So, you can see things that are far away closely and clearly, can you not? You can experience that you were a worthy-of-worship deity soul yesterday and that you will become that again tomorrow. Today, you are a Brahmin and tomorrow, you will be a deity. So, the matter of today and tomorrow is easy, is it not? Children with a powerful eye constantly continue to see clearly their beautifully decorated, double-crowned form in front of them. Just as you can see a fashionable dress in front of you and you feel that you are just about to put it on, in the same way, you can also see the costume of your deity body in front of you, can you not? That is, you are going to wear it tomorrow. You can see it, can you not? Is it still being prepared or can you see it already prepared in front of you? You saw how Brahma Baba always kept his future costume of the form of Shri Krishna in front of him. In the same way, with your powerful eye, are you able to see your costume clearly in front of you? One moment you are an angel and the next moment you change from an angel to a deity. You have the intoxication and you also have a vision of the practical form of a deity through your divine eye. So, is your eye that powerful? Or, has the power to see something become weak? When the power of the physical eyes is weak, even something clear seems as though it is behind a curtain or amid clouds. In the same way, you have to become deities. You did become those, but you cannot see behind the curtain of “I was like that” as to what you were and how you were. Is it clear? The curtain of faith and the bead of remembrance are both powerful, are they not? Or, is it that the beads are OK and the curtain is weak? If even one is weak, it won’t be clear. So check or have it checked as to whether the power of your eye has reduced. If you have been following the precautions of shrimat from birth, your eye would be constantly powerful. It is when you don’t observe shrimat that your power reduces. Take, the blessings, the medicine or the precautions of shrimat, whatever you want to call it, once again and they will become powerful. So, these eyes are divine binoculars.

These eyes are also powerful instruments through which you can see anyone as they are; you can easily and clearly see the soul-conscious form of others and their specialities. You can see the incognito soul present in the body just as you see the physical body with your physical eyes. Can you see the soul that clearly? Or do you see the body? With your divine eyes, you can only see the divine and subtle soul and you will only see the specialities of every soul. Just as your eyes are divine, in the same way, your specialities, that is, your virtues are also divine. Defects are a weakness. Weak eyesight would only see weaknesses. Just as when your physical eyes are weak, you see dark patches, in the same way, weak eyesight would see the darkness of weaknesses. BapDada has not given you weak eyes. You yourselves have made them weak. In fact, this powerful instrument of the divine eye always only sees the soul-conscious form in a natural way, whilst you are walking and moving around. It isn’t an effort to see whether that is a body or a soul. When you wonder, “Is it this or that?” it is a sign of weak eyesight. Scientists are able to see all the germs clearly with a powerful lens (microscope). In the same way, these powerful divine eyes can also very clearly see any extremely subtle form of Maya; they don’t allow the germs to increase, but destroy them. They recognise the illness of Maya they have in advance and destroy it and remain constantly free from disease.

Do you have such a powerful divine eye? These divine eyes are also a divine TV. Nowadays, everyone loves to watch TVThrough this TV you can see all your births of heaven, that is, you can see the divine film of your 21 births. You can see the beautiful scenes of your kingdom. You can see the soul’s story of every birth. You can see your crown, throne and fortune of the kingdom. Call it a divine vision or TV, is the eye of divine vision powerful? When you are free, then watch this film. Don’t look at the dances of nowadays. That is a dangerous dance. Watch the dances of the angels and the deities. Your switch of awareness is fine, is it not? If your switch is not fine, then, even if you put on the film, you won’t be able to see anything. Do you understand how elevated these eyes are? Nowadays, when things are invented, the majority of them are designed to be multi-purpose. In the same way, this divine eye can perform many tasks successfully. Sometimes, BapDada hears complaints of the weaknesses of the children and says: You have received a divine intellect and a divine eye. Always continue to use them in the right way and you won’t have time to think about or see anything. You won’t think about anything else or see anything else. So, there cannot be any complaints. Thinking and seeing are the special basis of becoming complete or of complaining. Whilst seeing and hearing everything, always think in a divine way. As is your thinking, so is your doing. Therefore, constantly keep both these of divine attainments with you. This is easy, is it not? You are powerful, but what do you become? When establishment started, you little children used to have short dialogues about Bholabhai (the innocent brother who keeps forgetting everything). So, you are powerful, but you become innocent. So, don’t become so innocent! Always remain powerful and make others powerful. Do you understand? Achcha.

To those who constantly use their divine intellect and their divine eye, to those who constantly churn knowledge in an elevated way with their divine intellect, to those who remain absorbed in seeing divine scenes through their divine eye, to those who clearly experience their future deity form, to those who experience tomorrow to be as close as today, to such powerful trinetri and trikaldarshi children with a divine eye, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting groups:

1) The way to become an easy yogi.

All of you are co-operative souls, are you not? You are constantly merged in the love of all relationships with the Father. The love of all relationships makes everything easy. Where there is a relationship of love, everything is easy and whatever is easy is constant. So, such easy yogi souls, do you experience all loving relationships with the Father? Are you like Udhav (a friend of Krishna) or are you like the gopis? Udhav simply spoke of knowledge, whereas the gopes and gopis began to experience God’s love. So, the speciality is to have the experience of all relationships. To have this special experience at the confluence age is to receive a blessing. To listen to knowledge and to speak knowledge is a different thing from fulfilling a relationship and remaining constantly lost in love with the power of all relationships. So, may you be constantly co-operative on the basis of having all relationships. Continue to increase this experience. This stage of being absorbed in love is the special stage of the gopes and gopis. To have love is different from remaining absorbed in love which is an elevated experience.

2) An elevated stage is to be beyond the influence of obstacles.

You never become influenced by any obstacles, do you? To the extent that someone has an elevated stage, that one with an elevated stage accordingly goes beyond any influence of obstacles. When someone goes into space, he goes up above and beyond the influence of the Earth’s gravity. In this way, you remain constantly safe from any influence of obstacles. Those who don’t stay lost in love experience having to work hard. Therefore, remain lost in the experience of the love of all relationships. There is love, but let it now emerge. When you simply remember Baba at amrit vela and then become busy in your work, the love becomes merged. Keep it emerged and you will remain constantly powerful.

Specially selected elevated avyakt versions:

Be one who has pure and positive thoughts for everyone. Those who have pure and positive thoughts for others automatically receive everyone’s co-operation. Pure and positive feelings for others easily and automatically create feelings of co-operation in the minds of others. Love makes them co-operative. So, always remain full of pure and positive thoughts. Be one who has pure and positive thoughts for others and make everyone loving and co-operative. To the extent that others are co-operative at a time of need – whether through their lives or through service – they receive special power according to the drama. They make their own efforts anyway, but they also receive extra power. The closer you bring others into connection in service plans, the more the practical result of service is visible. You have been doing the service of giving the message, and you have to continue to do that. However, this year, especially, you must not just give the message, but make them co-operative, that is, bring them closer in contact. Do not make them co-operative for just one hour or for the time that they are filling in a form, but bring them into a close connection and relationship through co-operation.

Whatever service you do, have the aim that they become co-operative in such a way that you yourselves become the might and they become the mikes. So, the aim of service is to prepare mikes, who receive the knowledge of yours and of the Father on the basis of their experience. Prepare such mikes who easily and automatically create an impact on others. Have the aim that, instead of using your energy, you use the energy of others for this Godly task. In any field, you can find small and big organisations to co-operate with in every country. At present, there are such organisations who have energy, but they don’t have a method of using it. They have not been able to see anyone like that to work with. They will give you co-operation with a lot of love and will come close, and there will be expansion for in your 900,000 subjects. Some heirs and some subjects will emerge. Now, make into heirs those whom you have made co-operative. On one side, create the heirs and on the other side, create the mikes. Become world benefactors. The symbol of co-operation is shown with two hands coming together. So, to be constantly co-operative with the Father is to put your hand into His hand and to remain constantly with Him with your intellect.

Whatever task you carry out, have a big heart when carrying out that task, and also have a big heart in making others co-operative. Never have a small heart either for yourself, for co-operative souls or for your companions. It is remembered that, by having a big heart, even dust turns to gold and weak companions become strong. Success becomes possible from being impossible. There are many such souls who will not immediately become co-operative, but continue to take their co-operation and continue to make others co-operative. So, move forward with co-operation, for this co-operation will make them into yogi souls. Now bring co-operative souls onto the stage and let their co-operation become worthwhile.

Blessing: May you be knowledge-full and reveal the true knowledge by first considering the field (land), the pulse and the time.
This new knowledge of the Father is true knowledge and it is with this new knowledge that the new world will be established. Let this authority and intoxication emerge in your form. However, it does not mean that you confuse any new people who come by telling them new things. First of all, consider the field, the pulse and the time and then give them knowledge. This is a sign of a knowledge-full soul. Consider the desire of the soul, feel his pulse, create a field, but internally, definitely have the power of fearlessness of truth for only then will you be able to reveal the true knowledge.
Slogan: To say “mine” means to make a small thing big, whereas to say “Yours” means to make a mountain into cotton wool.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 8 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 September 2019

To Read Murli 7 September 2019:- Click Here
08-09-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 23-01-85 मधुबन

दिव्य जन्म की गिफ्ट – दिव्य नेत्र

आज त्रिकालदर्शी बाप अपने त्रिकालदर्शी, त्रिनेत्री बच्चों को देख रहे हैं। बापदादा, दिव्य बुद्धि और दिव्य नेत्र जिसको तीसरा नेत्र भी कहते हैं, वह नेत्र कहाँ तक स्पष्ट और शक्तिशाली है, हर एक बच्चे के दिव्य नेत्र के शक्ति की परसेन्टेज देख रहे हैं। बापदादा ने सभी को 100 प्रतिशत शक्तिशाली दिव्य नेत्र जन्म की गिफ्ट दी है। बापदादा ने नम्बरवार शक्तिशाली नेत्र नहीं दिया लेकिन इस दिव्य नेत्र को हर एक बच्चे ने अपने-अपने कायदे प्रमाण, परहेज प्रमाण, अटेन्शन देने प्रमाण प्रैक्टिकल कार्य में लगाया है इसलिए दिव्य नेत्र की शक्ति किसी की सम्पूर्ण शक्तिशाली है, किसी की शक्ति परसेन्टेज में रह गई है। बापदादा द्वारा यह तीसरा नेत्र, दिव्य नेत्र मिला है, जैसे आजकल साइन्स का साधन दूरबीन है जो दूर की वस्तु को समीप और स्पष्ट अनुभव कराती है, ऐसे यह दिव्य नेत्र भी दिव्य दूरबीन का काम करते हैं। सेकण्ड में परमधाम, कितना दूर है! जिसके माइल गिनती नहीं कर सकते, परमधाम दूर देश कितना समीप और स्पष्ट दिखाई देता है। साइन्स का साधन इस साकार सृष्टि के सूर्य, चांद, सितारों तक देख सकते हैं। लेकिन यह दिव्य नेत्र तीनों लोकों को, तीनों कालों को देख सकते हैं। इस दिव्य नेत्र को अनुभव का नेत्र भी कहते हैं। अनुभव की आँख, जिस आँख द्वारा 5000 वर्ष की बात इतनी स्पष्ट देखते जैसेकि कल की बात है। कहाँ 5 हजार वर्ष और कहाँ कल! तो दूर की बात समीप और स्पष्ट देखते हो ना। अनुभव करते हो कल मैं पूज्य देव आत्मा थी और कल फिर बनेंगी। आज ब्राह्मण कल देवता। तो आज और कल की बात सहज हो गई ना। शक्तिशाली नेत्र वाले बच्चे अपने डबल ताजधारी सजे सजाये स्वरूप को सदा सामने स्पष्ट देखते रहते हैं। जैसे स्थूल चोला सजा सजाया सामने दिखाई देता है और समझते हो अभी का अभी धारण किया कि किया। ऐसे यह देवताई शरीर रूपी चोला सामने देख रहे हो ना। बस कल धारण करना ही है। दिखाई देता है ना। अभी तैयार हो रहा है वा सामने तैयार हुआ दिखाई दे रहा है? जैसे ब्रह्मा बाप को देखा अपना भविष्य चोला श्रीकृष्ण स्वरूप सदा सामने स्पष्ट रहा। ऐसे आप सभी को भी शक्तिशाली नेत्र से स्पष्ट और सामने दिखाई देता है? अभी-अभी फरिश्ता, अभी-अभी फरिश्ता सो देवता। नशा भी है और साक्षात देवता बनने का दिव्य नेत्र द्वारा साक्षात्कार भी है। तो ऐसा शक्तिशाली नेत्र है? वा कुछ देखने की शक्ति कम हो गई है? जैसे स्थूल नेत्र की शक्ति कम हो जाती है तो स्पष्ट चीज भी जैसे पर्दे के अन्दर वा बादलों के बीच दिखाई देती है। ऐसे आपको भी देवता बनना तो है, बना तो था लेकिन क्या था, कैसा था इस ‘था’ के पर्दे अन्दर तो नहीं दिखाई देता। स्पष्ट है? निश्चय का पर्दा और स्मृति का मणका दोनों शक्तिशाली हैं ना। वा मणका ठीक है और पर्दा कमजोर है। एक भी कमजोर रहा तो स्पष्ट नहीं होगा। तो चेक करो वा चेक कराओ कि कहाँ नेत्र की शक्ति कम तो नहीं हुई है। अगर जन्म से श्रीमत रूपी परहेज करते आये हो तो नेत्र सदा शक्तिशाली है। श्रीमत की परहेज में कमी है तब शक्ति भी कम है। फिर से श्रीमत की दुआ कहो, दवा कहो, परहेज कहो, वह करो तो फिर शक्तिशाली हो जायेंगे। तो यह नेत्र है दिव्य दूरबीन।

यह नेत्र शक्तिशाली यंत्र भी है। जिस द्वारा जो जैसा है, आत्मिक रूप को आत्मा की विशेषता को सहज और स्पष्ट देख सकते हो। शरीर के अन्दर विराजमान गुप्त आत्मा को ऐसे देख सकते जैसे स्थूल नेत्रों द्वारा स्थूल शरीर को देखते हो। ऐसे स्पष्ट आत्मा दिखाई देती है ना वा शरीर दिखाई देता है? दिव्य नेत्र द्वारा दिव्य सूक्ष्म आत्मा ही दिखाई देगी। और हर आत्मा की विशेषता ही दिखाई देगी। जैसे नेत्र दिव्य है तो विशेषता अर्थात् गुण भी दिव्य है। अवगुण कमजोरी है। कमजोर नेत्र कमजोरी को देखते हैं। जैसे स्थूल नेत्र कमजोर होता है तो काले-काले दाग दिखाई देते हैं। ऐसे कमजोर नेत्र अवगुण के कालेपन को देखते हैं। बापदादा ने कमजोर नेत्र नहीं दिया है। स्वयं ने ही कमजोर बनाया है। वास्तव में यह शक्तिशाली यंत्र रूपी नेत्र चलते-फिरते नैचुरल रूप में सदा आत्मिक रूप को ही देखते। मेहनत नहीं करनी पड़ती कि यह शरीर है या आत्मा है। यह है या वह है। यह कमजोर नेत्र की निशानी है जैसे साइन्स वाले शक्तिशाली ग्लासेज द्वारा सभी जर्मस को स्पष्ट देख सकते हैं। ऐसे यह शक्तिशाली दिव्य नेत्र माया के अति सूक्ष्म स्वरूप को स्पष्ट देख सकते हैं इसलिये जर्मस को बढने नहीं देते, समाप्त कर देते हैं। किसकी भी माया की बीमारी को पहले से ही जान समाप्त कर सदा निरोगी रहते हैं।

ऐसा शक्तिशाली दिव्य नेत्र है। यह दिव्य नेत्र दिव्य टी.वी. भी है। आजकल टी.वी. सभी को अच्छी लगती है ना। इसको टी.वी. कहो वा दूरदर्शन कहो इसमें अपने स्वर्ग के सर्व जन्मों को अर्थात् अपने 21 जन्मों की दिव्य फिल्म को देख सकते हो। अपने राज्य के सुन्दर नजारे देख सकते हो। हर जन्म की आत्म कहानी को देख सकते हो। अपने ताज तख्त राज्य-भाग्य को देख सकते हो। दिव्य दर्शन कहो वा दूरदर्शन कहो। दिव्य दर्शन का नेत्र शक्तिशाली है ना? जब फ्री हो तो यह फिल्म देखो, आजकल की डांस नहीं देखना, वह डेन्जर डांस है। फरिश्तों की डांस, देवताओं की डांस देखो। स्मृति का स्विच तो ठीक है ना। अगर स्विच ठीक नहीं होगा तो चलाने से भी कुछ दिखाई नहीं देगा। समझा – यह नेत्र कितना श्रेष्ठ है। आजकल मैजारिटी कोई भी चीज की इन्वेंशन करते हैं तो लक्ष्य रखते हैं कि एक वस्तु भिन्न-भिन्न कार्य में आवे। ऐसे यह दिव्य नेत्र अनेक कार्य सिद्ध करने वाला है। बाप-दादा बच्चों के कमजोरी की कभी-कभी कम्पलेन सुन यही कहते, दिव्य बुद्धि मिली, दिव्य नेत्र मिला, इसको विधि-पूर्वक सदा यूज करते रहो तो न सोचने की फुर्सत, न देखने की फुर्सत रहेगी। न और सोचेंगे न देखेंगे। तो कोई भी कम्पलेन रह नहीं सकती। सोचना और देखना यह दोनों विशेष आधार हैं कम्पलीट होने के वा कम्पलेन करने के। देखते हुए, सुनते हुए सदा दिव्य सोचो, जैसा सोचना वैसा करना होता है इसलिए इन दोनों दिव्य प्राप्तियों को सदा साथ रखो। सहज है ना। हो समर्थ लेकिन बन क्या जाते हो? जब स्थापना हुई तो छोटे-छोटे बच्चे डायलाग करते थे भोला भाई का। तो हैं समर्थ लेकिन भोला भाई बन जाते हैं। तो भोला भाई नहीं बनो। सदा समर्थ बनो और औरों को भी समर्थ बनाओ। समझा – अच्छा।

सदा दिव्य बुद्धि और दिव्य नेत्र को कार्य में लगाने वाले, सदा दिव्य बुद्धि द्वारा श्रेष्ठ मनन, दिव्य नेत्र द्वारा दिव्य दृश्य देखने में मगन रहने वाले, सदा अपने भविष्य देव स्वरूप को स्पष्ट अनुभव करने वाले, सदा आज और कल इतना समीप अनुभव करने वाले ऐसे शक्तिशाली दिव्य नेत्र वाले त्रिनेत्री, त्रिकालदर्शी बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते!

पर्सनल मुलाकात

1) सहजयोगी बनने की विधि – सभी सहजयोगी आत्मायें हो ना। सदा बाप के सर्व सम्बन्धों के स्नेह में समाये हुए। सर्व सम्बन्धों का स्नेह ही सहज कर देता है। जहाँ स्नेह का सम्बन्ध है वहाँ सहज है। और जो सहज है वह निरंतर है। तो ऐसे सहजयोगी आत्मा बाप के सर्व स्नेही सम्बन्ध की अनुभूति करते हो? ऊधव के समान हो या गोपियों के समान? ऊधव सिर्फ ज्ञान का वर्णन करता रहा। गोप गोपियाँ प्रभु प्यार का अनुभव करने वाली। तो सर्व सम्बन्धों का अनुभव – यह है विशेषता। इस संगमयुग में यह विशेष अनुभव करना ही वरदान प्राप्त करना है। ज्ञान सुनना सुनाना अलग बात है। सम्बन्ध निभाना, सम्बन्ध की शक्ति से निरंतर लगन में मगन रहना, वह अलग बात है। तो सदा सर्व सम्बन्धों के आधार पर सहयोगी भव। इसी अनुभव को बढ़ाते चलो। यह मगन अवस्था गोप गोपियों की विशेष है। लगन लगाना और चीज़ है लेकिन लगन में मगन रहना – यही श्रेष्ठ अनुभव हैं।

2) ऊंची स्थिति विघ्नों के प्रभाव से परे है – कभी किसी भी विघ्न के प्रभाव में तो नहीं आते हो? ऊंची स्थिति होगी तो ऊंची स्थिति वाले विघ्नों के प्रभाव से परे हो जाते हैं। जैसे स्पेस में जाते हैं तो ऊंचा जाते हैं, धरनी के प्रभाव से परे हो जाते। ऐसे किसी भी विघ्नों के प्रभाव से सदा सेफ रहते। किसी भी प्रकार की मेहनत का अनुभव उन्हें करना पड़ता – जो मुहब्बत में नहीं रहते। तो सर्व सम्बन्धों से स्नेह की अनुभूति में रहो। स्नेह है लेकिन उसे इमर्ज करो। सिर्फ अमृतेवेले याद किया फिर कार्य में बिजी हो गये तो मर्ज हो जाता। इमर्ज रूप में रखो तो सदा शक्तिशाली रहेंगे।

विशेष चुने हुए अव्यक्त महावाक्य

सबके प्रति शुभचिंतक बनो। जो सर्व के शुभचिंतक हैं उन्हें सर्व का सहयोग स्वत: ही प्राप्त होता है। शुभ-चिन्तक भावना औरों के मन में सहयोग की भावना सहज और स्वत: उत्पन्न करती है। स्नेह ही सहयोगी बना देता है। तो सदा शुभ-चिन्तन से सम्पन्न रहो, शुभ-चिन्तक बन सर्व को स्नेही, सहयोगी बनाओ। जितना जो आवश्यकता के समय सहयोगी बने हैं – चाहे जीवन से, चाहे सेवा से.. उनको ड्रामा अनुसार विशेष बल मिलता है। अपना पुरुषार्थ तो है ही लेकिन एकस्ट्रा बल मिलता है। सेवा के प्लैन में जितना सम्पर्क में समीप लाओ, उतना सेवा की प्रत्यक्ष रिजल्ट दिखाई देगी। सन्देश देने की सेवा तो करते आये हो, करते रहना लेकिन विशेष इस वर्ष सिर्फ सन्देश नहीं देना, सहयोगी बनाना है अर्थात् सम्पर्क में समीप लाना है। सिर्फ एक घण्टे के लिए वा फार्म भरने के समय तक के लिए सहयोगी नहीं बनाना है लेकिन सहयोग द्वारा उनको समीप सम्पर्क, सम्बन्ध में लाना है।

कोई भी सेवा करते हो तो उसका लक्ष्य यही रखना है कि ऐसे सहयोगी बनें जो आप स्वयं ‘माइट’ बन जाओ और वह ‘माइक’ बन जायें। तो सेवा का लक्ष्य ‘माइक’ तैयार करना है जो अनुभव के आधार से आपके या बाप के ज्ञान को प्रत्यक्ष करें। जिनका प्रभाव स्वत: ही औरों के ऊपर सहज पड़ता हो, ऐसे माइक तैयार करो। लक्ष्य रखो कि अपनी एनर्जी लगाने के बजाए दूसरों की एनर्जी इस ईश्वरीय कार्य में लगायें। किसी भी वर्ग के सहयोगी क्षेत्र हर छोटे-बड़े देश में मिल सकते हैं। वर्तमान समय ऐसी कई संस्थाएं हैं, जिनके पास एनर्जी है, लेकिन उसे यूज़ करने की विधि नहीं आती। उन्हें ऐसा कोई नज़र नहीं आता। वह बड़े प्यार से आपको सहयोग देंगे, समीप आयेंगे। और आपकी 9 लाख प्रजा में भी वृद्धि हो जायेगी। कोई वारिस भी निकलेंगे, कोई प्रजा निकलेंगे। अभी तक जिन्हें सहयोगी बनाया है उन्हों को वारिस बनाओ। एक तरफ वारिस बनाओ, दूसरी तरफ माइक बनाओ। विश्व-कल्याणकारी बनो। जैसे सहयोग की निशानी हाथ में हाथ मिलाके दिखाते हैं ना। तो सदा बाप के सहयोगी बनना – यह है सदा हाथ में हाथ और सदा बुद्धि से साथ रहना।

कोई भी कार्य करो तो स्वयं करने में भी बड़ी दिल और दूसरों को सहयोगी बनाने में भी बड़ी दिल वाले बनो। कभी भी स्वयं प्रति वा सहयोगी आत्माओं के प्रति, साथियों के प्रति संकुचित दिल नहीं रखो। बड़ी दिल रखने से – जैसे गाया हुआ है कि मिट्टी भी सोना हो जाती है – कमजोर साथी भी शक्तिशाली साथी बन जाता है, असम्भव सफलता सम्भव हो जाती है। कई ऐसी आत्मायें होती हैं जो सीधा सहजयोगी नहीं बनेंगी लेकिन सहयोग लेते जाओ, सहयोगी बनाते जाओ। तो सहयोग में आगे बढ़ते-बढ़ते सहयोग उन्हों को योगी बना देता है। तो सहयोगी आत्माओं को अभी स्टेज पर लाओ, उन्हों का सहयोग सफल करो।

वरदान:- धरनी, नब्ज और समय को देख सत्य ज्ञान को प्रत्यक्ष करने वाले नॉलेजफुल भव
बाप का यह नया ज्ञान, सत्य ज्ञान है, इस नये ज्ञान से ही नई दुनिया स्थापन होती है, यह अथॉरिटी और नशा स्वरूप में इमर्ज हो लेकिन इसका अर्थ यह नहीं कि आते ही किसी को नये ज्ञान की नई बातें सुनाकर मुंझा दो। धरनी, नब्ज और समय सब देख करके ज्ञान देना – यह नॉलेजफुल की निशानी है। आत्मा की इच्छा देखो, नब्ज देखो, धरनी बनाओ लेकिन अन्दर सत्यता के निर्भयता की शक्ति जरूर हो, तब सत्य ज्ञान को प्रत्यक्ष कर सकेंगे।
स्लोगन:- मेरा कहना माना छोटी बात को बड़ी बनाना, तेरा कहना माना पहाड़ जैसी बात को रुई बना देना।

TODAY MURLI 8 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 8 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 7 September 2018 :- Click Here

08/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to claim your inheritance from the Father, the Ocean of Knowledge, definitely study with the full force of 20 nails. It is only by studying that you will claim the kingdom and receive the status of liberation-in-life.
Question: Who can constantly follow the path of knowledge? What is the basis of a high status?
Answer: Those who have no interest in anything other than the study and who have a mature stage of knowledge are the ones who can constantly follow this path of knowledge. There is no benefit in wanting to go into trance or having visions or playing games. Maya interferes even more and then you let go of the Father’s hand and stop studying. In order to claim a high status, you have to pay full attention to this study.
Song: You are the Mother and Father.

Om shanti. The meaning of “Om shanti” has been explained to you children. Those who are religious-minded, righteous men who go to a temple etc. always say “Om shanti”. However, they don’t understand its meaning. We too say, “Om shanti”, which means “I am a soul.” The word “soul” is definitely used. The Supreme Soul, who is a soul, says: Om shanti. The original religion of myself, the soul, is peace. The soul tells you his occupation. The Father too says “Om shanti.” I too am a soul but I am called the Supreme Soul because I always reside in the supreme abode. I do not enter the cycle of birth and death. The Father personally comes here and tells you: You come into rebirth; you are bodily beings. Those who are in the subtle region are beings with subtle bodies. I am also beyond that; I do not have a physical body. It is said of those with subtle bodies: this one is Brahma, this one is Vishnu and this one is Shankar. It is the name of the body, not the soul. Each soul adopts a body and then a name is given to the body. When someone dies, it is said: That one left his body. The name of the body still remains and that soul then takes another body. You wouldn’t say of the Supreme Father, the Supreme Soul, that He leaves a body and takes another. Everyone’s body is given a name. When you children belong to Me, I give you another name, just as gurus give you another name. Nowadays, when a kumari gets married her name is changed. The names of the men don’t change because they have to use their name in their business. Mothers don’t have businesses and so their names can be changed. Men have their names etc. in their insurance and businesses etc. The Father now explains: You all remember and say You are the Mother and Father; You are the Companion and the Boatman. You take us with You. Look how many relationships You come into! We will shed our bodies and go back with You. You children know that the Boatman will take you back with Him. There is so much praise of the Father. So, when will He come again? When will He come and become your Companion? No one knows. It is said: When it is the end of the path of devotion, I have to come to protect the devotees. I have to become the Boatman and take everyone back. You know how He has come and become the Mother and Father. That One alone is called the Boatman and the Guru. He takes you from the dirty world, from a life of bondage, to liberation-in-life and that is why He is called the Purifier and the Boatman. The golden age is called the new world. It is the same world, it is just that the old one is destroyed. It is the same as when you build a new home while staying in the old one; you then leave the old home. Here, too, when establishment has taken place, the old world is destroyed. The meaning of ‘Trimurti’ has also been explained. To carry out establishment of heaven through Brahma is the task of the Supreme Father, the Supreme Soul, alone. He carries it out through him because He is Karankaravanhar. The Father personally comes here and explains to you face to face. I sit here and teach you mouth-born creation of Brahma easy Raja Yoga and knowledge through Brahma. You will claim the future deity status for 21 births, numberwise, according to your efforts. You know that you are studying with the Mother and Father. This is the Godly University. If you stop studying, it would be understood that it is not in your fortune. This school has to continue. Baba comes and teaches you through the body of this Brahma. So, no matter where you children are or whatever centre you are at, you know that you have to claim your inheritance of liberation-in-life, that is, the kingdom, from the Ocean of Knowledge, the Supreme Father, the Supreme Soul from beyond. If we stop studying, we won’t be able to receive the inheritance. The Father has come to take us back with Him. When the new world is established, the Boatman will take everyone back. You know the Boatman and you also know the ones through whom establishment, destruction and sustenance take place. Then, you also know those who become Lakshmi and Narayan and who then rule the kingdom by studying this. You understand, to the extent you study, that you are truly claiming a royal status through this study. If you don’t study, your status will be destroyed. This is the study of Raja Yoga. Many children become tired while studying. Not to study means to become tired. They say: That’s it! I’m unable to study any further! There is no question of any expense in this study. In those studies, when poor people are unable to pay the fees, they stop studying. However, those who are very interested in studying apply to the Government: I want to study but I don’t have the money. The Government then gives them some money. In one way or another, they make a request: I want to study, but my father doesn’t have any money, so please help me! Because the Government doesn’t have the money, it refuses the students. They think: I have to study, so what shall I do now? They then approach wealthy people or philanthropists: My parents are poor, but I want to study and work, so will you be able to help me? Those who are religious  minded will give that help. Kumaris cannot make such requests, but men can. There is a lot of income earned by studying. Here, you have to study and also make a bargain. The Father is the Businessman, the Jewel Merchant and the Ocean of Knowledge. The Mother and Father, the unlimited Ocean of Knowledge, says: I teach you Raja Yoga and make you into kings of kings as I did in the previous cycle. All of these points have to be imbibed. Those who have mature intellects are able to imbibe well. Everything depends on the intellect. Some have satopradhan intellects, whereas others have sato, rajo or tamo intellects. In those school s too, students know what each one’s intellect is like. Those who have satopradhan intellects pass with honours. They are appointed monitors. Some also receive a scholarship. This is an unlimited school. Here, there are those with sato, rajo and tamo intellects. Here, there is just the one status. This is Raja Yoga. There is just the one Godly study. The Father says: I teach all of you children Raja Yoga. To the extent that you make effort, so you will accordingly claim a high status. You have understood about the elevated status. You will claim a status, numberwise. The Father loves everyone. He has come to liberate everyone from the chains of Maya. No one else can say: I teach you Raja Yoga every cycle. Only the Father says: I come at the confluence age of every cycle. People have made such a mistake by writing that He comes in every age. The Father says: I am the Purifier. I come to purify you at the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. Baba has come at this time, so study well. Destruction is going to take place. Study with the force of 20 nails and show courage. You mustn’t stop studying. Those who stop studying fail and fall. Children receive cautions. There should be no evil spirits of lust, anger, greed or attachment. Continue to look in the mirror of your heart: Am I worthy of marrying Lakshmi? They have also written about the example of Narad. All of you are devotees. On the path of devotion, Narad is remembered as the highest devotee among the males, and Meera is remembered as the highest among the females. That is the path of devotion. On the path of knowledge, you can see that the names of Mama and Baba are glorified. Then, their rosary of victory is also created. Those who give happiness are remembered; memorials are created of such people. What did they do? Someone may have perhaps opened a college or made many donations and performed a lot of charity. What else would they do? The Congress Party took over from the British and ruled here. The Father says: This is the kingdom that is like a mirage. No matter how much happiness there is, it is all like a mirage. There is a lot of external show. This science continues for about 100 years. When this Dada was working in Bombay, there was no electricity or telephones etc. Now, science has created so many wonders. Now, only a few more years remain. The arrogance of science started about 100 years ago. You can’t tell what they would do in 100 years of the golden age! There, all of these things which you take from here have power. You carry that power with you to rule the unshakeable, immovable kingdom of happiness and peace. So, you have to pay that much attention to the study. You should also make that much effort. You know that you receive a lot of happiness from this Mother and Father. Then, if while moving along you leave this study, it means you don’t listen to them. If you don’t listen to them and just go and engage yourself in your business, everything finishes. You will then only have whatever you attained. After you let go of Baba’s hand, Maya completely swallows you. Maya, the alligator, ate the elephant. This has to happen. You can see how very good ones, those who gave very good invitations and who opened centres also stopped studying. It would be said that, according to the drama, they only had that much in their fortune. Then, what would their condition be? Maya completely eats them up. So many were finished. Many who went into trance, who used to play those games, are no longer here today. You should never have any desire to go into trance or have visions. When you have desires, there are obstacles in those desires. The evil spirits of Maya also enter. They used to play such parts of going into trance. Those who used to stay in trance for five to seven days, either in childhood parts or even as empresses, are no longer here today. There is no benefit in that. Only those who have a mature stage of knowledge can stay here permanently. Never have any desire to go into trance. Imbibe what Baba is teaching you. To the extent that you study, accordingly, you will claim a high status. You children also have to remember that the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching you. We are studying and attaining a high status for 21 births and we will then change from being worthy of worship to worshippers. Only those who belong to the Brahmin clan can say this. No one else can say this. The play is based on Bharat. You would say that you are becoming worthy-of-worship deities. Only those who are worthy of worship continue to fall as they take the full 84 births. You children know all of this. You also know the occupation of Shiv Baba. By having faith, you can claim your inheritance in a second. They say that they belong to God. Therefore, to divorce God after saying that is also a wonder. In a school, those who claim a good number are said to be worthy and obedient. Students too would consider themselves to be worthy. The father and t eacher would also say: This one is worthy and obedient. Here, the Father, Teacher and Guru are the same. He is the Father, then He becomes our Teacher and teaches us and He will then take us back with Him. The Father says: We will all go back together. Your lights have been extinguished and are now being ignited. My light is always ignited. All of this refers to souls. You know that you souls came bodiless and that you now have to return bodiless. Our play has to end and then repeat. You children have this understanding in your intellects. “You are the Mother and Father and with the mercy of Your study we receive so much happiness.” You should never leave or forget such a Mother and Father. The Father says: If you continue to write letters to such a Mother and Father, to BapDada who gives you such an inheritance, Baba would understand that you remember Him. You receive love and remembrance from Baba every day in the murli. When children’s letters arrive after a long time, it is understood that you don’t remember Baba fully. The Father doesn’t need to write to you. The murli of the Father is sent every day. Baba gives love and remembrance anyway. He is the ignited Light. He tells you children: Definitely continue to write letters. Baba is not worried about His special children. He cautions those who fluctuate: Don’t forget, continue to study. Baba receives all the news. The names are noted in the register. He asks: Why is this child absent? If a child is absent every day, it would be understood that he has died. Baba asks: Have you received any news from such-and-such a child? The teacher would write: So-and-so doesn’t come at all. His intellect now has doubt. Achcha. Perhaps in the future his intellect will have faith. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Show courage to come in the rosary of victory. In order to become worthy of being remembered, give everyone happiness.
  2. Be an obedient student and glorify the name of the Father and Teacher. Never perform wrong actions by being influenced by the evil spirits of lust or anger.
Blessing: May you be an all-round server and remain constantly content by being full of all spiritual treasures.
An all-round server”, means a master bestower of happiness, a master bestower of peace and a master bestower of knowledge. A bestower is always an image that is full. As is the self, so he would make others. “A spiritual server”, means one who is ever ready and all-rounder. Only those who are full can become all-rounders. Those who are full will be content and make everyone content. A lack of any kind will create discontentment. The way to be content and make others content is to be full and a bestower.
Slogan: Keep the golden gift of good wishes and pure feelings with you and you will be able to transform any soul.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 8 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 September 2018

To Read Murli 7 September 2018 :- Click Here
08-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – ज्ञान सागर बाप से वर्सा लेना है तो 20 नाखूनों का जोर देकर भी पढ़ाई जरूर पढ़ो, पढ़ाई से ही राजाई वा जीवनमुक्ति पद प्राप्त होगा”
प्रश्नः- ज्ञान मार्ग में सदा कायम कौन रह सकता है? ऊंच पद की प्राप्ति का आधार क्या है?
उत्तर:- जिनका पढ़ाई के सिवाए दूसरा किसी भी बात में शौक नहीं है, ज्ञान की परिपक्व अवस्था है, वही इस ज्ञान मार्ग में कायम रह सकते हैं। बाकी ध्यान दीदार की आश रखना, खेलपाल करना, इससे कोई फ़ायदा नहीं, और ही माया प्रवेश कर लेती है फिर बाप का हाथ वा पढ़ाई छोड़ देते हैं। ऊंच पद के लिए पढ़ाई पर फुल अटेन्शन चाहिए।
गीत:- तुम्हीं हो माता……..

ओम् शान्ति। ओम् शान्ति का अर्थ तो बच्चों को समझाया गया है। जो भी रिलीजस माइन्डेड अथवा धर्मात्मा पुरुष होते हैं, मन्दिर टिकाणें में जाते हैं तो उनके मुख से ओम् शान्ति अक्षर निकलता है। परन्तु वह अर्थ नहीं समझते। हम भी कहते हैं ओम् शान्ति, अहम् आत्मा। आत्मा अक्षर जरूर आता है। सुप्रीम सोल अथवा आत्मा कहती है ओम् शान्ति। मैं जो आत्मा हूँ, मेरा स्वधर्म है शान्त। आत्मा अपना आक्यूपेशन बतलाती है। बाप भी कहते हैं ओम् शान्ति। हम भी आत्मा हैं परन्तु मुझे परम आत्मा कहते हैं क्योंकि मैं सदैव परमधाम में रहता हूँ। मैं जन्म-मरण में नहीं आता हूँ। बाप सम्मुख आकर कहते हैं तुम पुनर्जन्म में आते हो, तुम देहधारी हो। सूक्ष्मवतन वाले भी सूक्ष्म देहधारी हैं। मै इनसे भी परे हूँ। मुझे कोई स्थूल शरीर नहीं है। सूक्ष्म शरीरधारी को कहते हैं – यह ब्रह्मा है, यह विष्णु, यह शंकर है। नाम तो शरीर का हुआ ना। आत्मा का तो नहीं है। आत्मा शरीर धारण करती है, तब शरीर पर नाम पड़ता है। कोई मरते हैं तो कहेंगे फलाने का शरीर छूट गया। नाम तो शरीर पर रह जाता है फिर दूसरा शरीर लेते हैं। परमपिता परमात्मा के लिए तो ऐसे नहीं कहेंगे कि वह एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं। सबका शरीर पर नाम पड़ता है। तुम बच्चे मेरे बनते हो तो तुमको भी दूसरा नाम देता हूँ। जैसे गुरू लोग नाम देते हैं ना। आजकल कन्या शादी करती है तो उनका भी नाम बदलता है। पुरुष का नहीं बदलता क्योंकि पुरुष को तो धन्धा करना है अपने नाम से। माताओं का तो धन्धा है नहीं, इसलिए उनका नाम बदल सकता है। पुरुषों का इन्श्योरेन्स धन्धे आदि में नाम है। अब बाप समझाते हैं – सब याद तो करते हैं तुम मात-पिता हो और साथी हो, खिवैया हो, तुम हमको साथ ले चलते हो। देखो, कितने सम्बन्धों में आते हैं। शरीर छोड़कर फिर आपके साथ चलना है। तुम बच्चे जानते हो – खिवैया हमको साथ में ले जायेंगे।

बाप की कितनी महिमा है! फिर वह कब आयेंगे? कब आकर साथी बनेंगे? यह नहीं जानते। कहते हैं जब भक्ति मार्ग का अन्त होता है तब भक्तों की रक्षा करने मुझे आना पड़ता है। मुझे खिवैया बन वापिस ले जाना है। तुम जानते हो कैसे आकर मात-पिता बने हैं। इनको ही खिवैया, गुरू कहा जाता है। छी-छी दुनिया, जीवनबन्ध से जीवनमुक्ति में ले जाते हैं इसलिए उनको पतित-पावन खिवैया कहा जाता है। नई दुनिया कहा जाता है – सतयुग को। दुनिया तो यही है, सिर्फ पुरानी दुनिया का विनाश होता है। जैसे पुराने घर में रहकर नया बनाए फिर पुराना घर छोड़ना होता है ना, यह भी जब स्थापना हो जाती है तो फिर पुरानी दुनिया का विनाश होता है। त्रिमूर्ति का भी अर्थ समझाया है। ब्रह्मा द्वारा स्वर्ग की स्थापना करना – यह परमपिता परमात्मा का ही काम है। उन्हों द्वारा कराते हैं क्योंकि करनकरावनहार है। बाप आकर सम्मुख समझाते हैं। ब्रह्मा द्वारा सहज राजयोग और ज्ञान तुम ब्रह्मा मुख वंशावली को बैठ सिखलाता हूँ। भविष्य 21 जन्म के लिए तुम सो देवी-देवता पद पायेंगे, नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार।

तुम जानते हो हम मात-पिता से पढ़ रहे हैं, यह है ही ईश्वरीय विश्व-विद्यालय। अगर पढ़ाई को छोड़ देंगे तो समझा जायेगा इनकी त़कदीर में नहीं है। स्कूल तो चलना ही है। बाबा आकर इस ब्रह्मा तन द्वारा पढ़ाते हैं। तो बच्चे भल कहाँ भी हों, किसी भी सेन्टर पर हों, जानते हो ज्ञान सागर पारलौकिक परमपिता परमात्मा से हमको जीवनमुक्ति का अथवा राजाई का वर्सा पाना है। अगर हम पढ़ाई छोड़ देंगे तो वर्सा पा नहीं सकेंगे। बाप तो आये हैं साथ ले जाने। नई दुनिया स्थापन हो जायेगी फिर सबको खिवैया ले जायेंगे। तुम खिवैया को भी जानते हो और जिन द्वारा स्थापना, विनाश, पालना कराते हैं उन्हों को भी तुम जानते हो। फिर इस पढ़ाई से जो लक्ष्मी-नारायण बन राज्य करते हैं उनको भी तुम जानते हो। समझते हो हम बरोबर इस पढ़ाई से राजाई पद प्राप्त कर रहे हैं। जितना जो पढ़ेंगे…… पढ़ाई नहीं पढ़ेंगे तो पद भ्रष्ट हो पड़ेगा। यह है राजयोग की पढ़ाई। बहुत बच्चे पढ़ाई पढ़ते-पढ़ते थक जाते हैं। नहीं पढ़ना माना थक जाना। कहते हैं – बस, आगे हम नहीं पढ़ सकते हैं। इस पढ़ाई में खर्चे की बात तो नहीं है। उस पढ़ाई में गरीब बिचारे पढ़ाई का पैसा नहीं दे सकते हैं तो पढ़ना छोड़ देते हैं। परन्तु जिनको पढ़ाई का अच्छा शौक होता है तो गवर्मेन्ट को अप्लाई करते हैं कि हम पढ़ना चाहते हैं परन्तु पैसा नहीं है। फिर उनको गवर्मेन्ट पैसा देती है। कैसे भी करके रिक्वेस्ट करते हैं कि मैं पढ़ना चाहता हूँ, मेरे बाप के पास पैसा नहीं है, हमें मदद करो। गवर्मेन्ट पास पैसा न होने कारण रिफ्यूज़ कर देती है। समझते हैं हमको पढ़ना तो जरूर है फिर क्या करेंगे? बड़े साहूकार वा दानी पुरुष के पास जायेंगे। हमारे मात-पिता गरीब हैं हम पढ़कर सर्विस करना चाहते हैं, आप हमें मदद कर सकेंगे? रिलीजस माइन्डेड जो होंगे वह मदद दे देंगे। कन्यायें ऐसे रिक्वेस्ट नहीं कर सकती, पुरुष कर सकते हैं। पढ़ाई से इनकम बहुत होती है। यहाँ यह पढ़ाई भी है और यह सौदा भी है। बाप सौदागर, रत्नागर है और फिर ज्ञान सागर है।

मात-पिता बेहद का ज्ञान सागर कहते हैं – मैं कल्प पहले मुआफिक तुमको राजयोग सिखाकर राजाओं का राजा बनाता हूँ। सब प्वाइन्ट्स धारण करनी हैं। बालिग बुद्धि अच्छी रीति धारण कर सकते हैं। बुद्धि पर ही सारा मदार है। कोई की सतोप्रधान, कोई की सतो, कोई की रजो, तमो, बुद्धि है। उस स्कूल में भी स्टूडेन्ट्स जानते हैं इनकी बुद्धि कैसी है। सतोप्रधान बुद्धि वाले पास विद ऑनर होते हैं। उन्हें ही मॉनीटर आदि बनाते हैं। स्कॉलरशिप भी मिल जाती है। यह फिर बेहद का स्कूल है। इनमें भी सतो, रजो, तमो बुद्धि हैं। यहाँ मर्तबा एक ही है। यह है ही राजयोग। ईश्वरीय पढ़ाई एक ही है। बाप कहते हैं मैं तुम सब बच्चों को राजयोग सिखाता हूँ। तो जितना पुरुषार्थ करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। ऊंच पद को तो समझ गये हो। नम्बरवार पद पायेंगे। बाप का तो लॅव सब पर है। सबको माया की जंजीरों से छुड़ाने आये हैं। और कोई ऐसे कह नहीं सकेंगे कि कल्प-कल्प हम तुमको राजयोग सिखलाते हैं। यह बाप ही कहते हैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे, युगे आता हूँ। मनुष्यों ने फिर युगे-युगे लिख कितनी भूल कर दी है। बाप कहते हैं मैं पतित-पावन हूँ। मैं आता हूँ तुमको पावन बनाने, कलियुग अन्त और सतयुग आदि के संगम पर। इस समय बाबा आया हुआ है तो अच्छी रीति पढ़ना है, विनाश भी होने वाला है। 20 नाखून का जोर देकर पढ़ना है, हिम्मत दिखानी है। पढ़ाई नहीं छोड़नी है। जो पढ़ाई छोड़ देते हैं वह नापास हो गिर पड़ते हैं। बच्चों को सावधानी मिलती है। कोई भी काम वा क्रोध का वा लोभ, मोह का भूत नहीं आना चाहिए। दिल दर्पण में अपने को देखते रहो – मैं लायक हूँ लक्ष्मी को वरने? नारद का भी एक मिसाल लगा दिया है। भक्त तो तुम सब हो ना। भक्ति मार्ग में मेल्स में नारद उत्तम गाया हुआ है और फीमेल्स में मीरा। वह है भक्ति मार्ग। ज्ञान मार्ग में फिर देखते हो – मम्मा-बाबा का नाम बाला है। फिर उनकी विजय माला भी बनी हुई है। सिमरण उनको किया जाता है जो सुख देते हैं। उसका यादगार बनाते हैं। अभी उन्हों ने क्या किया? कोई ने करके कॉलेज खोल, दान-पुण्य बहुत किया, और क्या करेंगे? अभी फिरंगियों से (अंग्रेजों से) राज्य ले कांग्रेस ने राज्य किया। बाप कहते हैं यह तो रुण्य के पानी (मृगतृष्णा) मिसल राज्य है। भल कितने भी सुख हैं परन्तु यह हैं सब रुण्य के पानी मिसल। बाहर का भभका बहुत है। यह साइन्स भी 100 वर्ष चलती है। यह दादा जब बाम्बे में सर्विस पर था तो यह बिजली-टेलीफोन आदि कुछ नहीं था। अभी साइन्स ने कितना कमाल किया है। अभी बाकी थोड़े वर्ष हैं। साइन्स का घमण्ड 100 वर्ष से शुरू हुआ है। सतयुग के 100 वर्ष में तो पता नहीं क्या कर देंगे। वहाँ इन सब चीज़ों में बल रहता है जो तुम यहाँ से ले जाते हो। अखण्ड, अटल, सुख-शान्तिमय राज्य करने के लिए तुम बल ले जाते हो। तो पढ़ाई पर इतना अटेन्शन देना चाहिए, इतना पुरुषार्थ करना चाहिए।

तुम जानते हो इस मात-पिता से सुख घनेरे मिलते हैं फिर अगर चलते-चलते छोड़ देते हैं तो गोया सुनते ही नहीं। न सुना जाकर अपने धन्धे-धोरी में लगा तो ख़लास। जो पाया सो पाया। हाथ छोड़ने बाद फिर माया एकदम हप कर लेती है। गज को माया ग्राह ने हप कर लिया। यह तो होना ही है। तुम देखते भी हो – कैसे अच्छे-अच्छे, बड़े-बड़े निमंत्रण देने वाले, सेन्टर खोलने वाले भी पढ़ाई को छोड़ देते हैं। कहेंगे – ड्रामा अनुसार इनकी त़कदीर में इतना ही था। फिर उनका क्या हाल होगा? माया एकदम खा लेती है। कितने ख़त्म हुए। बहुत ध्यान में जाने वाले, खेल-पाल करने वाले आज हैं नहीं। यह ध्यान-दीदार की आशायें कभी नहीं रखनी चाहिए। आशा रखते हैं तो आशा में विघ्न पड़ जाते हैं। माया के भूत भी प्रवेश कर लेते हैं। ध्यान का कितना पार्ट बजाते थे। जो 5-7 रोज़ ध्यान में बचपन के पार्ट में रहते थे, महारानी बन जाते थे, आज वह हैं नहीं। इससे कोई फ़ायदा नहीं। ज्ञान की परिपक्व अवस्था वाले ही कायम रह सकते हैं। कभी भी ध्यान में जाने की आशा नहीं रखनी चाहिए। बाबा जो पढ़ाते हैं वह धारण करना है। जितना पढ़ेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। तुम बच्चों को भी याद रखना है हमको परमपिता परमात्मा पढ़ाते हैं। हम पढ़कर 21 जन्म के लिए ऊंच पद पाते हैं फिर हम ही पूज्य से पुजारी बनते हैं। जो ब्राह्मण कुल के बनते हैं वही ऐसे कह सकते हैं। दूसरा कोई कह न सके। भारत का ही खेल बना हुआ है। तुम कहेंगे हम पूज्य सो देवी-देवता बनते हैं। पूज्य ही फिर गिरकर पूरे 84 जन्म लेते हैं। बच्चों को यह सब मालूम है। शिवबाबा का आक्यूपेशन भी तुम जानते हो। सेकेण्ड में निश्चय से तुम वर्सा ले सकते हो। कहते हैं हम ईश्वर के बने हैं फिर ईश्वर को फारकती देना – वन्डर है ना। स्कूल में पढ़ते हैं, अच्छे नम्बर में पास हुआ तो उनको सपूत समझा जायेगा। स्टूडेन्ट अपने को भी सपूत समझेगा। बाप और टीचर भी कहेंगे यह सपूत है। यह तो बाप, टीचर, गुरू एक ही है। बाप भी है फिर टीचर बन हमको पढ़ाते हैं फिर साथ भी ले जायेंगे। बाप कहते हैं हम साथ इकट्ठे चलेंगे। तुम्हारी ज्योति बुझ गई थी, अब जग रही है। हमारी ज्योति सदैव जगी हुई है। है सारी आत्मा की ही बात। तुम जानते हो हम आत्मा अशरीरी आई फिर अशरीरी हो जाना है। हमारा खेल पूरा होकर फिर रिपीट होना है। यह तुम बच्चों को बुद्धि में समझ है।

तुम मात-पिता……. तुम्हारी पढ़ाई की कृपा से हमको कितने सुख घनेरे मिलते हैं। ऐसे मात-पिता को कभी भूलना, छोड़ना नहीं चाहिए। बाप कहते हैं ऐसे मात-पिता, बापदादा को, जो तुमको इतना वर्सा देते हैं, चिट्ठी लिखते रहेंगे तो बाबा समझेंगे – याद करते हैं। बाबा की तो रोज़ याद-प्यार जाती ही है मुरली में। बच्चों की चिट्ठी देरी से आयेगी तो समझेंगे पूरा याद नहीं करते हैं। बाप को तो लिखने की दरकार नहीं है। बाप की तो रोज़ मुरली जाती है। याद-प्यार बाबा देते ही हैं। वह तो जागती ज्योत है। बच्चों को समझाते हैं पत्र जरूर लिखते रहो। अनन्य बच्चों की फिक्र नहीं रहती है। हिलने वालों को सावधानी दी जाती है – भूल नहीं जाना, पढ़ते रहना। समाचार तो बाबा के पास सब आते हैं ना। रजिस्टर में नाम दाखिल रहता है। पूछते हैं यह बच्चा अबसेन्ट क्यों है? रोज़ अबसेन्ट रहते तो समझा जाता – मर गया। बाबा पूछते हैं – फलाने बच्चे का कोई समाचार नहीं आया है? तो लिखते हैं फलाना अभी आता ही नहीं है, संशयबुद्धि हो गया है। अच्छा, आगे चलकर शायद निश्चयबुद्धि हो जाये। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विजय माला में आने की हिम्मत दिखानी है। सिमरण लायक बनने के लिए सबको सुख देना है।

2) सपूत स्टूडेन्ट बन बाप-टीचर का नाम बाला करना है। कभी भी काम व क्रोध के भूत के वश हो उल्टा काम नहीं करना है।

वरदान:- सर्व रूहानी खजानों से सम्पन्न बन सदा सन्तुष्ट रहने वाले आलराउण्ड सेवाधारी भव
आलराउण्ड सेवाधारी अर्थात् मास्टर सुख दाता, मास्टर शान्ति दाता, मास्टर ज्ञान दाता। दाता सदा सम्पन्न मूर्त होते हैं। जैसा स्वयं होंगे वैसा औरों को बनायेंगे। रूहानी सेवाधारी अर्थात् एवररेडी और आलराउन्ड। आलराउन्डर वही बन सकते जो सम्पन्न हैं, सम्पन्न ही सन्तुष्ट होंगे और सबको सन्तुष्ट करेंगे। किसी भी प्रकार की अप्राप्ति असन्तुष्टता पैदा करती है। सन्तुष्ट रहने और सन्तुष्ट करने की विधि है सम्पन्न और दाता बनना।
स्लोगन:- शुभ भावना, शुभ कामना की गोल्डन गिफ्ट साथ हो तो किसी भी आत्मा का परिवर्तन कर सकते हो।
Font Resize