8 February ki murli

TODAY MURLI 8 FEBRUARY 2021 DAILY MURLI (English)

08/02/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, there are now going to be the omens of Jupiter over Bharat in particular and the whole world in general. Baba is making Bharat into the land of happiness through you children.
Question: What effort do you children make in order to become 16 celestial degrees full?
Answer: Effort to accumulate the power of yoga. It is with the power of yoga that you become 16 celestial degrees full. For this, the Father says: Give a donation and the eclipse of the omens will be removed. Donate the vice of lust that makes you fall and you will become 16 celestial degrees full. 2) Renounce body consciousness and become soul conscious. Renounce all consciousness of the body.
Song: You are the Mother and You are the Father!

Om shanti. You sweetest, spiritual children, heard the praise of your spiritual Father. Those people continue to sing this whereas you children are claiming your inheritance from that Baba in apractical way. You understand that Baba is making Bharat into the land of happiness through you. Those through whom He is making it will definitely become the masters of the land of happiness. You children should have a lot of happiness. Baba’s praise is limitless. We are claiming our inheritance from Him. There are now the imperishable omens of Jupiter over you children, that is, over the whole world. Only you Brahmins know that there are now going to be the omens of Jupiter over Bharat in particular and the world in general because you are now becoming 16 celestial degrees full. At this time there are no degrees. You children should have a lot of happiness. It shouldn’t be that you have happiness here and that it disappears as soon as you go outside. The One whom you praise is now present in front of you. The Father explains that He departed 5000 years ago, having given you the kingdom. You will see that, gradually, everyone will continue calling out. You will continue to make slogans. Indira Gandhi used to say that there should be one religion, one language and one kingdom. It is a soul in her too that speaks. The soul understands that there truly was one kingdom in Bharat and that it is now in front of you. You understand that everything can be completely destroyed at any time. This is nothing new. Bharat definitely has to become 16 celestial degrees full again. You know that with this power of yoga you are becoming 16 celestial degrees full. It is said: Give a donation and the omens of the eclipse will be removed. The Father also says: Donate the vices and defects. This is the kingdom of Ravan. The Father comes and liberates you from that. Of all the vices, lust is the biggest defect. You have become body conscious. You now have to become soul conscious. You have to renounce the consciousness of your bodies. Only you children understand these things; the world does not understand these things. Bharat, which was 16 degrees full, was the kingdom of the perfect deities and it is now eclipsed. There used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. Bharat used to be heaven and it is now eclipsed by the vices, and this is why the Father says: Give a donation and the omens of the eclipse will be removed. It is the vice of lust that makes you fall. This is why the Father says: Donate this and you will become 16 celestial degrees full. If you do not donate it, you cannot become this. Souls have received their own parts, have they not? You have this in your intellects. You souls have such great parts! You claim your fortune of the kingdom of the world. This is an unlimited drama in which there are many actors. The first-class actors are Lakshmi and Narayan; they have the number one parts. Vishnu becomes Brahma and Saraswati and then Brahma and Saraswati become Vishnu. How do they take 84 births? You have the whole cycle in your intellects. No one understands anything by studying the scriptures. They have said that the duration of each cycle is hundreds of thousands of years. In that case, the swastika couldn’t be created of four equal parts. Businessmen draw a swastika on their account books. They worship Ganesh (Swastika). That is an unlimited account book. There are four parts in the swastika. At the Jagadnath Temple, they cook rice in a pot and that is seen to divide into four equal parts when it is cooked. There, the bhog they offer is rice, because the people there eat a lot of rice. There is no rice in the bhog at the Shrinath Dware Temple. There, everything they make is enriched with clarified butter. When they cook, they cover their mouths with a cloth to maintain hygiene. They then take that holy food to offer it with a lot of respect. After it is offered, it is then given to the brahmin guides. They then take it to their shops where there are big crowds. Baba has also seen that. Who is now teaching you children? The most beloved Father comes and becomes your Servant. He is serving you. Do you have that much intoxication? The Father is teaching us souls. It is souls that do everything. Human beings say that souls are immune to the effect of action. You know that you souls have imperishable parts of 84 births recorded in you. To say that souls are immune to the effect of action is like the difference of day and night. Only when people sit and understand this knowledge for four to six weeks will these points sit in their intellects. Day by day, many points emerge. These are like musk (fragrance). When children have full faith, they understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, really does come to take them from degradation into salvation. The Father says: You now have the omens of Jupiter over you. I made you into the masters of heaven, but Ravan has now cast the omens of the eclipse of Rahu over everyone. The Father has now come once again to make you into the masters of heaven. Therefore, you mustn’t cause yourself a loss. Businessmen always keep their accounts in good order. Those who cause themselves a loss are called fools. This is now the biggest business of all. Scarcely a few businessmen do this business. This business is an imperishable business, whereas all other businesses are going to turn to dust. You are now doing true business. The Father is the Ocean of Knowledge, the Businessman and the Jewel Merchant. Look how many people come to the exhibitions. Hardly any of them come to the centres. Bharat is very big. You have to go everywhere. The Ganges of water exist everywhere in Bharat, do they not? You also have to explain that the Purifier is not the River Ganges. You Ganges of knowledge have to go everywhere. There will continue to be melas and exhibitions etc. in all four directions. Day by day, pictures continue to be made. They should be so beautiful that people enjoy looking at them and feel that the things you explain are very good. The kingdom of Lakshmi and Narayan is now being established. The picture of the ladder is firstclass. The Brahmin religion is also now being established. You Brahmins then become deities. You are now making effort. Therefore, continue to ask your heart: Do I have any small or large thorn in me? Do I have the thorn of lust in me? Even a small thorn of anger is very bad. Deities do not have anger. It is shown that when Shankar opens his eye, destruction takes place. That too is a false allegation. Destruction has to take place. Shankar cannot have a snake etc. around him in the subtle region. There are no parks, gardens or snakes either in the subtle region or in the incorporeal world. All of those things exist here. Heaven also exists here. At this time, human beings are like thorns and that is why this is called the forest of thorns. The golden age is the garden of flowers. You can see what type of garden Baba is creating. He is making it most beautiful. He is making everyone beautiful. He Himself is everbeautiful. He makes all of you brides, that is, all of you children, beautiful. Ravan made you completely ugly. You children should now have the happiness that you have the omens of Jupiter over you. What benefit would there be if there were happiness for only half the time and sorrow for half the time? No; there is three-quarters happiness and one quarter sorrow. This drama is predestined. Many people ask why the drama was created in this way. This drama is eternal. You cannot ask why it was created. This eternal and imperishable drama is predestined. That which is predestined is taking place. No one can receive eternal liberation. This eternal world continues all the time and will continue to exist. There can never be complete annihilation. The Father makes the world new, but there are so many subtle margins. When human beings become impure and unhappy, they call out to Him. The Father comes and makes everyone’s body pure so that you never experience untimely death for half the cycle. You gain victory over death. Therefore, you children should make a lot of effort. The higher the status you claim, the better it is. Everyone makes effort to earn a greater income. Even those who collect wood would say that they want to earn a greater income. Some earn by cheating. Money is the cause of problems. There, no one can loot your money. Look at what is happening in the world. There is nothing of sorrow there. You are now claiming such a big inheritance from the Father! Examine yourselves and see whether you are worthy of going to heaven. (Example of Narad). People continue to go on many pilgrimages, but they don’t attain anything. There is also the song: We have gone around in all four directions and still remain far away from You. The Father is now teaching you such a good pilgrimage! There is no difficulty in this. The Father says: Simply remember Me and your sins will be absolved. I am telling you children a very good method, and you listen to this. This is the body that I take on loan. This father has so much happiness that he has given his body on loan to Baba. Baba is making me into the master of the world. The name of this body is “The Lucky Chariot”. You children are now making effort to go to the land of Rama. Therefore, you should occupy yourselves fully in making effort. Why should you become a thorn? You are Brahmins. Everything depends on the murli. Where could you receive shrimat from without the murli? Many good exhibition pictures have been created for you to explain to others. Keep these main pictures at your shop and many will benefit. Tell them: Come inside and we will explain to you how this world cycle turns. It doesn’t matter if it takes a little time to benefit someone. Together with doing that business, you can also do this business. This is Baba’s shop of the imperishable jewels of knowledge. The picture of the ladder is a number one picture. There is also the picture of Shiva, the God of the Gita. It is because God Shiva came into Bharat that the birthday of Shiva is celebrated here. That Father has now come again. The sacrificial fire has also been created. You children are being given the knowledge of Raja Yoga. Only the Father comes and makes you into kings of kings. The Father says: I am making you into sun-dynasty kings and queens whose idols kings who indulge in vice will bow down to. Full effort has to be made in order to become an emperor or empress of heaven. Baba doesn’t forbid you to construct houses; you may build them. The money would otherwise turn to dust anyway. Instead, why not build a home and live comfortably? The money should be used. Build houses and also keep some money for food. People also give donations and perform charity. For example, the King of Kashmir donated all his private property to the Arya Samajis. People do everything for those who belong to their own caste and religion. It is not like that here. Here, all are children. There is no question of caste etc. here. Those are limited castes etc. I make you souls pure and give you the sovereignty of the world. According to the drama, you people of Bharat receive your fortune of the kingdom. You children understand that you now have the omens of Jupiter over you. Shrimat says: Constantly remember Me alone. You don’t have to do anything else. Businessmen on the path of devotion put something aside for charity. They receive a temporary reward for that in their next birth. I have now come here directly. Therefore, you should use everything for this task. I don’t want anything. Does Shiv Baba have to build houses etc. for Himself? All of these are for you Brahmins. Both poor and wealthy all stay here together. Some become upset because they think that God doesn’t have equal vision for everyone. They say that some are given mansions to live in, whereas others have to live in huts. They forget Shiv Baba. If they were to stay in remembrance of Shiv Baba, they would never say such things. Everyone has to be considered. If people are used to living like that at home, they have to be given similar facilities. This is why you are told to offer hospitality to everyone. If you don’t have something, it can be given to you. The Father loves His children. No one else can have as much love. You children have been told so many times that you have to make effort. Create clever methods for others. For this, you need three feet of land where children can continue to explain. If some eminent person has a big hall, ask him: Can we keep pictures here? We will conduct class here for one to two hours in the morning and the evening and then leave. We will cover all the expenses and your name will become famous. Many will come and change from shells to diamonds. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Check yourself and remove all the thorns from within you. Make effort to go to the land of Rama (God).
  2. Do business with the imperishable jewels of knowledge and give time to benefiting someone. Become beautiful and make others beautiful.
Blessing: May you be a mahavir who receives the medal of an elevated stage by applying a full stop.
No one gives the soldiers of this spiritual army in this eternal drama a medal, but according to the drama, they automatically receive the medal of an elevated stage. Only those who see each actor’s part as detached observers and easily put a full stop receive this medal. Their experience is the foundation of such souls and this is why no barrier of any problem can stop them.
Slogan: Become a flying bird and cross over any mountain of an adverse situation and reach your destination.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 8 FEBRUARY 2021 : AAJ KI MURLI

08-02-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अभी भारत खास और आम सारी दुनिया पर ब्रह्स्पति की दशा बैठनी है, बाबा तुम बच्चों द्वारा भारत को सुखधाम बना रहे हैं”
प्रश्नः- 16 कला सम्पूर्ण बनने के लिए तुम बच्चे कौन सा पुरुषार्थ करते हो?
उत्तर:- योगबल जमा करने का। योगबल से तुम 16 कला सम्पूर्ण बन रहे हो। इसके लिए बाप कहते हैं दे दान तो छूटे ग्रहण। काम विकार जो गिराने वाला है इसका दान दो तो तुम 16 कला सम्पूर्ण बन जायेंगे। 2- देह-अभिमान को छोड़ देही-अभिमानी बनो, शरीर का भान छोड़ दो।
गीत:- तुम मात पिता…….

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने अपने रूहानी बाप की महिमा सुनी। वह गाते रहते हैं यहाँ तुम प्रैक्टिकल में उस बाबा का वर्सा ले रहे हो। तुम जानते हो – बाबा हमारे द्वारा ही भारत को सुखधाम बना रहे हैं। जिसके द्वारा बना रहे हैं जरूर वही सुख-धाम का मालिक बनेंगे। बच्चों को तो बहुत खुशी रहनी चाहिए। बाबा की महिमा अपरमअपार है। उनसे हम वर्सा पा रहे हैं। अभी तुम बच्चों पर बल्कि सारी दुनिया पर अब ब्रहस्पति की अविनाशी दशा है। अभी तुम ब्राह्मण ही जानते हो भारत खास और दुनिया आम सब पर अब ब्रहस्पति की दशा बैठनी है क्योंकि तुम अब 16 कला सम्पूर्ण बनते हो। इस समय तो कोई कला नहीं है। बच्चों को बहुत खुशी रहनी चाहिए। ऐसे नहीं यहाँ खुशी है, बाहर जाने से गुम हो जाए। जिसकी महिमा गाते हैं वह अब तुम्हारे पास हाज़िर है। बाप समझाते हैं – 5 हज़ार वर्ष पहले भी तुमको राजाई देकर गया था। अब तुम देखेंगे – आहिस्ते-आहिस्ते सब पुकारते रहेंगे। तुम्हारे भी स्लोगन निकलते रहेंगे। जैसे इन्दिरा गांधी कहती थी कि एक धर्म, एक भाषा, एक राजाई हो, उसमें भी आत्मा कहती है ना। आत्मा जानती है बरोबर भारत में एक राजधानी थी, जो अभी सामने खड़ी है। समझते हैं कभी भी सारा खात्मा हो जाए, यह कोई नई बात नहीं है। भारत को फिर 16 कला सम्पूर्ण जरूर बनना है। तुम जानते हो हम इस योगबल से 16 कला सम्पूर्ण बन रहे हैं। कहते हैं ना – दे दान तो छूटे ग्रहण। बाप भी कहते हैं विकारों का, अवगुणों का दान दो। यह रावण राज्य है। बाप आकर इनसे छुड़ाते हैं। इसमें भी काम विकार बड़ा भारी अवगुण है। तुम देह-अभिमानी बन पड़े हो। अब देही-अभिमानी बनना पड़े। शरीर का भान भी छोड़ना पड़े। इन बातों को तुम बच्चे ही समझते हो। दुनिया नहीं जानती। भारत जो 16 कला सम्पूर्ण था, सम्पूर्ण देवताओं का राज्य था, अभी ग्रहण लगा हुआ है। इन लक्ष्मी-नारायण की राजधानी थी ना। भारत स्वर्ग था। अब विकारों का ग्रहण लगा हुआ है इसलिए बाप कहते हैं दे दान तो छूटे ग्रहण। यह काम विकार ही गिराने वाला है इसलिए बाप कहते यह दान दो तो तुम 16 कला बन जायेंगे। नहीं देंगे तो नहीं बनेंगे। आत्माओं को अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है ना। यह भी तुम्हारी बुद्धि में है। तुम्हारी आत्मा में कितना पार्ट है। तुम विश्व का राज्य-भाग्य लेते हो। यह बेहद का ड्रामा है। अथाह एक्टर्स हैं। इसमें फर्स्टक्लास एक्टर्स हैं यह लक्ष्मी-नारायण। इन्हों का नम्बरवन पार्ट है। विष्णु सो ब्रह्मा-सरस्वती फिर ब्रह्मा-सरस्वती सो विष्णु बनते हैं। यह 84 जन्म कैसे लेते हैं। सारा चक्र बुद्धि में आ जाता है। शास्त्र पढ़ने से थोड़ेही कोई समझते हैं। वह तो कल्प की आयु ही लाखों वर्ष कह देते हैं। फिर तो स्वास्तिका भी बन न सके। व्यापारी लोग चौपड़ा लिखते हैं तो उस पर स्वास्तिका निकालते हैं। गणेश की पूजा करते हैं। यह है बेहद का चौपड़ा। स्वास्तिका में 4 भाग होते हैं। जैसे जगन्नाथपुरी में चावल का हण्डा रखते हैं, वह पक जाता है तो 4 भाग हो जाते हैं। वहाँ चावल का ही भोग लगाते हैं क्योंकि वहाँ चावल बहुत खाते हैं। श्रीनाथ द्वारे में चावल होते नहीं। वहाँ तो सब सच्चे घी का पक्का माल बनता है। जब भोजन बनाते हैं तो भी सफाई से मुंह बंद करके बनाते हैं। प्रसाद बहुत इज्जत से ले जाते हैं, भोग लगाकर फिर वह सब पण्डे लोगों को मिलता है। दुकान में जाकर रखते हैं। वहाँ बहुत भीड़ रहती है। बाबा का देखा हुआ है। अब तुम बच्चों को कौन पढ़ा रहे हैं? मोस्ट बिलवेड बाप आकर तुम्हारा सर्वेन्ट बना है। तुम्हारी सेवा कर रहे हैं, इतना नशा चढ़ता है? हम आत्माओं को बाप पढ़ाते हैं। आत्मा ही सब कुछ करती है ना। मनुष्य फिर कह देते आत्मा निर्लेप है। तुम जानते हो आत्मा में तो 84 जन्मों का अविनाशी पार्ट भरा हुआ है, उनको फिर निर्लेप कहना कितना रात-दिन का फ़र्क हो जाता है। यह जब कोई अच्छी रीति मास डेढ़ बैठ समझे तब यह प्वाइंट्स बुद्धि में बैठें। दिन-प्रतिदिन प्वाइंट्स तो बहुत निकलती रहती हैं। यह है जैसे कस्तूरी। बच्चों को जब पूरा निश्चय बैठता है तो फिर समझते हैं बरोबर परमपिता परमात्मा ही आकर दुर्गति से सद्गति करते हैं।

बाप कहते हैं तुम पर अभी ब्रहस्पति की दशा है। मैंने तुमको स्वर्ग का मालिक बनाया अब फिर रावण ने राहू की दशा बिठा दी है। अब फिर बाप आये हैं स्वर्ग का मालिक बनाने। तो अपने को घाटा नहीं लगाना चाहिए। व्यापारी लोग अपना खाता हमेशा ठीक रखते हैं। घाटा डालने वाले को अनाड़ी कहा जाता है। अब यह तो सबसे बड़ा व्यापार है। कोई बिरला व्यापारी यह व्यापार करे। यही अविनाशी व्यापार है और सब व्यापार तो मिट्टी में मिल जाने वाले हैं। अभी तुम्हारा सच्चा व्यापार हो रहा है। बाप है ज्ञान का सागर, सौदागर, रत्नागर। प्रदर्शनी में देखो कितने आते हैं। सेन्टर में कोई मुश्किल आयेंगे। भारत तो बहुत लम्बा-चौड़ा है ना। सब जगह तुमको जाना है। पानी की गंगा सारे भारत में है ना। यह भी तुमको समझाना पड़े। पतित-पावन कोई पानी की गंगा नहीं। तुम ज्ञान गंगाओं को जाना पड़ेगा। चारों तरफ मेले प्रदर्शनी होते रहेंगे। दिन-प्रतिदिन चित्र बनते रहेंगे। ऐसे शोभावान चित्र हों जो देखने से ही मज़ा आ जाए। यह तो ठीक समझाते हैं, अब लक्ष्मी-नारायण की राजधानी स्थापन हो रही है। सीढ़ी का चित्र भी फर्स्टक्लास है। अभी ब्राह्मण धर्म की स्थापना हो रही है। यह ब्राह्मण ही फिर देवता बनते हैं। तुम अभी पुरूषार्थ कर रहे हो तो दिल अन्दर अपने से पूछते रहो हमारे में कोई छोटा-मोटा कांटा तो नहीं है? काम का कांटा तो नहीं है? क्रोध का छोटा कांटा वह भी बड़ा खराब है। देवतायें क्रोधी नहीं होते हैं। दिखाते हैं – शंकर की आंख खुलने से विनाश हो जाता है। यह भी एक कलंक लगाया है। विनाश तो होना ही है। सूक्ष्मवतन में शंकर को कोई साँप आदि थोड़ेही हो सकते। सूक्ष्मवतन और मूलवतन में बाग बगीचे सर्प आदि कुछ भी नहीं होते। यह सब यहाँ होते हैं। स्वर्ग भी यहाँ होता है। इस समय मनुष्य कांटों मिसल हैं, इसलिए इनको कांटों का जंगल कहा जाता है। सतयुग है फूलों का बगीचा। तुम देखते हो बाबा कैसा बगीचा बनाते हैं। मोस्ट ब्युटीफुल बनाते हैं। सबको हसीन बनाते हैं। खुद तो एवर हसीन है। सब सजनियों को अथवा बच्चों को हसीन बनाते हैं। रावण ने बिल्कुल काला बना दिया है। अब तुम बच्चों को खुशी होनी चाहिए हमारे ऊपर ब्रहस्पति की दशा बैठी है। आधा समय सुख, आधा समय दु:ख हो तो उससे फायदा ही क्या? नहीं, 3/4 हिस्सा सुख, 1/4 हिस्सा दु:ख है। यह ड्रामा बना हुआ है। बहुत लोग पूछते हैं ड्रामा ऐसा क्यों बनाया है? अरे यह तो अनादि है ना। क्यों बना, यह प्रश्न उठ नहीं सकता। यह अनादि अविनाशी ड्रामा बना हुआ है। बनी-बनाई बन रही है। किसको भी मोक्ष नहीं मिल सकता। यह तो अनादि सृष्टि चली आती है, चलती ही रहेगी। प्रलय होती नहीं।

बाप नई दुनिया बनाते हैं परन्तु उसमें गुंजाइस कितनी है। जब मनुष्य पतित दु:खी होते हैं तब बुलाते हैं। बाप आकर सबकी काया कल्पतरू बनाते जो आधाकल्प तुम्हारी कभी अकाले मृत्यु नहीं होगी। तुम काल पर जीत पाते हो। तो बच्चों को बहुत पुरूषार्थ करना चाहिए। जितना ऊंच पद पायें उतना अच्छा है। पुरूषार्थ तो हर एक जास्ती कमाई के लिए करता ही है। लकड़ी वाले भी कहेंगे हम जास्ती कमाई करें। कोई ठगी से भी कमाते हैं। पैसे पर ही आफत है। वहाँ तो तुम्हारे पैसे कोई लूट न सके। देखो दुनिया में तो क्या-क्या हो रहा है। वहाँ ऐसी कोई दु:ख की बात नहीं होती है। अब तुम बाप से कितना वर्सा लेते हो। अपनी जांच करनी चाहिए – हम स्वर्ग में जाने लायक हैं? (नारद का मिसाल) मनुष्य अनेक तीर्थ आदि करते रहते हैं, मिलता कुछ भी नहीं। गीत भी है ना – चारों तरफ लगाये फेरे फिर भी हरदम दूर रहे। अब बाप तुमको कितनी अच्छी यात्रा सिखलाते हैं, इसमें कोई तकलीफ नहीं। सिर्फ बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। बहुत अच्छी युक्ति सुनाता हूँ। बच्चे सुनते हैं। यह मेरा लोन लिया हुआ शरीर है। इस बाप को कितनी खुशी होती है। हमने बाबा को शरीर लोन पर दिया है। बाबा हमको विश्व का मालिक बनाते हैं। नाम भी है भागीरथ। अभी तुम बच्चे रामपुरी में चलने लिए पुरूषार्थ कर रहे हो। तो पूरा पुरूषार्थ में लग जाना चाहिए। कांटा क्यों बनना चाहिए।

तुम ब्राह्मण-ब्राह्मणियां हो। सबका आधार मुरली पर है। मुरली तुमको नहीं मिलेगी तो तुम श्रीमत कहाँ से लायेंगे। ऐसे नहीं सिर्फ एक ब्राह्मणी को ही मुरली सुनानी है। कोई भी मुरली पढ़कर सुना सकते हैं। बोलना चाहिए – आज तुम सुनाओ। अब तो प्रदर्शनी के चित्र भी समझाने के लिए अच्छे बने हैं। यह मुख्य चित्र तो अपनी दुकान पर रखो, बहुतों का कल्याण होगा। बोलो, आओ तो हम तुमको समझायें। यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। किसका कल्याण करने में थोड़ा टाइम गया तो हर्जा थोड़ेही है। उस सौदे के साथ यह सौदा करा सकते हो। यह बाबा का अविनाशी ज्ञान रत्नों का दुकान है। नम्बरवन है सीढ़ी का चित्र और गीता के भगवान शिव का चित्र। भारत में शिव भगवान आया था, जिसकी जयन्ती मनाते हैं। अब फिर वह बाप आया है। यज्ञ भी रचा हुआ है। तुम बच्चों को राजयोग का ज्ञान सुना रहे हैं। बाप ही आकर राजाओं का राजा बनाते हैं। बाप कहते हैं मैं तुमको सूर्यवंशी राजा-रानी बनाता हूँ, जिन्हों को फिर विकारी राजायें भी नमन करते हैं। तो स्वर्ग का महाराजा-महारानी बनने का पूरा पुरूषार्थ करना चाहिए। बाबा कोई मकान आदि बनाने की मना नहीं करते हैं। भल बनाओ। पैसे भी तो मिट्टी में मिल जायेंगे, इससे क्यों न मकान बनाए आराम से रहो। पैसे काम में लगाने चाहिए। मकान भी बनाओ, खाने के लिए भी रखो। दान-पुण्य भी करते हैं। जैसे कश्मीर का राजा अपनी प्रापर्टी जो प्राइवेट थी, वह सब आर्य समाजियों को दान में दिया। अपने धर्म, जाति के लिए करते हैं ना। यहाँ तो वह कोई बात नहीं। सब बच्चे हैं। जाति आदि की बात नहीं। वह है देह की जाति आदि। मैं तो तुम आत्माओं को विश्व की बादशाही देता हूँ, पवित्र बनाए। ड्रामा अनुसार भारतवासी ही राज्य-भाग्य लेंगे। अब तुम बच्चे जानते हो – हमारे ऊपर ब्रहस्पति की दशा बैठी हुई है। श्रीमत कहती है मामेकम् याद करो और कोई बात नहीं। भक्ति मार्ग में व्यापारी लोग कुछ न कुछ धर्माऊ जरूर निकालते हैं। उसका भी दूसरे जन्म में अल्पकाल के लिए मिलता है। अब तो मैं डायरेक्ट आया हूँ, तो तुम इस कार्य में लगाओ। मुझे तो कुछ नहीं चाहिए। शिवबाबा को अपने लिए कोई मकान आदि बनाना है क्या। यह सब तुम ब्राह्मणों का है। गरीब साहूकार सब इकट्ठे रहते हैं। कोई-कोई बिगड़ते हैं – भगवान के पास भी सम दृष्टि नहीं है। कोई को महल में, कोई को झोपड़ी में रखते हैं। शिवबाबा को भूल जाते हैं। शिवबाबा की याद में रहे तो कभी ऐसी बातें न करें। सबसे पूछना तो होता है ना। देखा जाता है यह घर में ऐसा आराम से रहता है तो वह प्रबन्ध देना पड़े इसलिए कहते हैं सबकी खातिरी करो। कोई भी चीज़ न हो तो मिल सकती है। बाप का तो बच्चों पर लव रहता है। इतना लव और कोई का रह न सके। बच्चों को कितना समझाते हैं पुरूषार्थ करो। औरों के लिए भी युक्ति रचो। इसमें चाहिए 3 पैर पृथ्वी के, जिसमें बच्चियां समझाती रहें। कोई बड़े आदमी का हाल हो, हम सिर्फ चित्र रख देते हैं। एक-दो घण्टा सुबह-शाम को क्लास कर चले जायेंगे। खर्चा सब हमारा, नाम तुम्हारा होगा। बहुत आकर कौड़ी से हीरे जैसे बनेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जो भी अन्दर में कांटे हैं उनकी जांच कर निकालना है। रामपुरी में चलने का पुरूषार्थ करना है।

2) अविनाशी ज्ञान रत्नों का सौदा कर किसी का भी कल्याण करने में समय देना है। हसीन बनना और बनाना है।

वरदान:- फुलस्टॉप द्वारा श्रेष्ठ स्थिति रूपी मैडल प्राप्त करने वाले महावीर भव
इस अनादि ड्रामा में रूहानी सेना के सेनानियों को कोई मैडल देता नहीं है लेकिन ड्रामानुसार उन्हें श्रेष्ठ स्थिति रूपी मैडल स्वत: प्राप्त हो जाता है। यह मैडल उन्हें ही प्राप्त होता है जो हर आत्मा का पार्ट साक्षी होकर देखते हुए फुलस्टाप की मात्रा सहज लगा देते हैं। ऐसी आत्माओं का फाउण्डेशन अनुभव के आधार पर होता है इसलिए कोई भी समस्या रूपी दीवार उन्हें रोक नहीं सकती।
स्लोगन:- हर परिस्थिति रूपी पहाड़ को पार कर अपनी मंजिल को प्राप्त करने वाले उड़ता पंछी बनो।

TODAY MURLI 8 FEBRUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 8 February 2020

08/02/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this spiritual hospital makes you everhealthy for half the cycle. Sit here in soul consciousness.
Question: What direction should your intellects remember whilst you carry on with your business etc?
Answer: The Father’s direction is: You must not remember any corporeal or subtle beings. Only when you have remembrance of the one Father will your sins be absolved. None of you can say that you don’t have time for this; whilst doing everything you can stay in remembrance.

Om shanti. The Father says “Good morning to the sweetest, spiritual children. After “Good morning” has been said, you children are told to remember the Father. You call out: O Purifier, come and purify us! So, the Father first of all says: Remember the spiritual Father. The spiritual Father of all is just the One. A father is never considered to be omnipresent. So, as much as possible, children, first of all, remember the Father. Do not remember any corporeal or subtle beings; only remember the one Father. This is very easy, is it not? People say that they are busy and that they don’t have time. However, you always have time for this. The Father shows you the method. You also know that it is only by remembering the Father that your sins will be burnt away. This is the main thing. No one forbids you to carry on with your business. Whilst doing all of that, simply remember the Father so that your sins can be absolved. You understand that you are impure. Sages, holy men, rishis and munis etc. all make spiritual endeavour. One makes spiritual endeavour in order to meet God. Until you have His introduction, you cannot meet Him. You know that no one in the world has the Father’s introduction. Everyone has the introduction of bodies. One quickly has the introduction of anything large. It is only when the Father comes that He explains to you the introduction of souls. There are the two things: the soul and the body. A soul is a star and is very subtle; no one can see it. When you come and sit here, you have to sit in soul consciousness. This is also a hospital. It is the hospital where you become everhealthy for half a cycle. Souls are imperishable; they are never destroyed. A whole part is in each soul. The soul says: I can never be destroyed. All of these souls are imperishable. The bodies are perishable. It is now in your intellects that you, the souls, are imperishable and that you take 84 births and that this is the drama. You also know which founders of religions come at which time and how many births they take. The 84 births that are remembered must definitely be of one religion; they cannot be for everyone. Not all the religions come at the same time. Why should we sit and calculate anything about others? We know that so-and-so comes at such-and-such a time to establish a religion. There is then expansion of that. Everyone has to become satopradhan from tamopradhan. When the world is tamopradhan, it is then that the Father comes and makes it into the satopradhan golden age. You children now know that you, the people of Bharat, will come and rule in the new world. There won’t be any other religions there. Amongst you children too, those who are to claim a high status will make greater effort to stay in remembrance and they will also write their news: Baba, I stay in remembrance for this long. Due to being ashamed, some don’t write their news at all. They wonder: What would Baba say? However, Baba still knows. A teacher at school would tell the students: If you don’t study, you will fail. Lokik parents also understand this from how much their children study. This is a very big school. Here, you are not made to sit numberwise. Your intellects understand that it is numberwise. Baba is now sending the good children to other places. When they go somewhere else, others then write: We want a maharathi. So, it is definitely understood that they are cleverer and better known than they themselves are. It is numberwise. At exhibitions too, many types of people come, so there should be guides standing there to check them. Those who greet the people would come to know what type of people have come. So, that one should then signal to the ones explaining: You can explain to these people. You can understand that there are those of the first grade, the second grade and the third grade. There, you have to serve everyone. When an important person comes, everyone definitely offers him so much hospitality. This is the law. The father or the teacher praises the children in class. This is also special attention. The children who glorify the name are given special attention and praised. To say that So-and-so is wealthy and religiousminded is also praising him. You now know that the Highest on High is God. People say that He truly is the Highest on High, but when you ask them to tell you His biography, they say that He is omnipresent. They completely put Him down. You can now explain that the Highest on High is God and that He is the Resident of the supreme abode whereas the deities are in the subtle region. Here, there are human beings. So, the Highest on High is God, the Incorporeal. You now know that you were like diamonds and that you have now become like shells, and so you have shown God to be even lower than yourselves. You don’t even recognise Him. You people of Bharat receive that recognition and then that recognition decreases. You now continue to give everyone recognition of the Father. Many will receive the Father’s recognition. Your main pictures are the Trimurti, the cycle and the tree. There is so much enlightenment in them. Anyone would say that Lakshmi and Narayan were the masters of the golden age. OK, so what was there before the golden age? Only at this time do you know this. It is now the end of the iron age and it is the rule of the people over the people. There are no kingdoms now; there is so much difference. There were kings at the beginning of the golden age, and there are kings now in the iron age too, although none of them are pure. Some of them simply buy those titles. No one is a real Maharaja; they simply buy the title. For instance, there are the Maharajas of Patiala, Jodhpur, Bikaneer etc. They mention those names. Those names have continued eternally. At first, there were pure emperors, and now there are impure ones. The words ‘kings’, ‘emperors’ continue. Of Lakshmi and Narayan, you would say that they were the masters of the golden age, the one who claimed the kingdom. You now know how the kingdom is being established. The Father says: I am now teaching you for 21 births. Those people study and become barristers etc. in the same birth. You are studying at this time and will become emperors and empresses in the future. According to the dramaplan, the new world is being established. It is now the old world. Although there are very good, big palaces, no one has the power to build palaces studded with diamonds and jewels. In the golden age, they used to build all the palaces studded with diamonds and jewels. It doesn’t take long to build them. Here, too, when an earthquake etc. takes place, they employ many contractors and they rebuild a whole city within a couple of years. It took perhaps eight to ten years to build New Delhi, but there is a difference between the labourers there and the labourers here. Nowadays, they continue to invent new things. The science of construction has so much force. They can get everything ready-made and flats are built so quickly. They build them very quickly here, and so all of this will be useful there. All of this will go with you; those sanskars will still remain. Even the sanskars of science will go with you. So, the Father now continues to explain to you: If you want to become pure, remember the Father. The Father says, “Good morning, and then also teaches you: Children, are you sitting in remembrance of the Father? Whilst walking and moving around, remember the Father because you have burdens of many births on your head. You take 84 births whilst coming down the ladder. Now, there is the ascending stage in one birth. The more you continue to remember the Father, the more happiness you will have and you will also receive strength. There are many children who are placed in the front number, but they don’t stay in remembrance at all. Although they are clever in knowledge, they aren’t on the pilgrimage of remembrance. The Father praises you children. This one is also number one, and so he must definitely be making effort. You must always think that it is Shiv Baba who is explaining to you and then your intellects’ yoga will remain connected there. This one must also be studying. Nevertheless, he still says: Remember Baba. These pictures are for explaining to anyone. The incorporeal One is called God. He comes and adopts a body. The children of the one God are all souls, brothers. They are now present in their bodies. All are immortal images. This body is the throne of the immortal image (the soul). The immortal throne is not anything in particular. This is the throne of the immortal image. Each soul resides in the centre of a forehead. That is called the immortal throne. It is the immortal throne of the immortal image. All souls are immortal; they are very subtle. The Father is incorporeal. From where would He bring His throne? The Father says: This is My throne too. I come and take this throne on loan. I come and sit on the immortal throne of the ordinary old body of Brahma. You now know that this is the throne of all souls. This only refers to human beings; it does not apply to animals. Human beings who have become worse than animals should at least reform themselves first. When people ask you about animals, tell them: First of all, at least reform yourself. In the golden age, even the animals are very good and firstclass. There won’t be any rubbish etc. there. If pigeons were to leave their droppings in the king’s palace, there would be a fine. There won’t be any rubbish there at all. There, they are very careful. They remain on guard so that no animals can ever push their way in. There is a lot of cleanliness there. There is also so much cleanliness in the Lakshmi and Narayan Temple. They even show a pigeon in the Shankar and Parvati Temple. So they must definitely spoil the temples too. They have written many such stories in the scriptures. The Father now explains to you children, but, there are few who can imbibe it. The rest don’t understand anything. The Father explains to you children with so much love: Children, become very, very sweet. Let jewels always emerge from your lips. You are rup and basant. Stones should not emerge from your lips. Souls are praised. A soul says: I am a President. I am so-and-so. This is the name of my body. OK, whose children are the souls? The one Supreme Soul. So, you must surely receive the inheritance from Him. So, how can He be omnipresent? You now understand that you too didn’t know anything previously. Your intellects have now opened so much. When you go to any temples now, you understand that all of those pictures are false. Can there be anyone with ten arms or with an elephant’s trunk as in the picture? All of that is the paraphernalia of the path of devotion. In fact, there should be devotion of only one Shiv Baba, who is the Bestower of Salvation for All. It is in your intellects that Lakshmi and Narayan take 84 births. Then, the highest-on-high Father comes and grants salvation to everyone. There is no one higher than Him. Amongst you too, you are able to imbibe these things of knowledge, numberwise. If someone is unable to imbibe them, of what use is that one? Instead of becoming sticks for the blind, some even become blind themselves. If a cow doesn’t give milk, they keep it locked in a cowshed. Here, too, some are unable to give the milk of knowledge. There are many who don’t make any effort at all. They don’t understand that they should at least benefit someone. They don’t have any concern for their own fortune. They are simply happy with whatever they receive. The Father would say: It is not in that one’s fortune. One should make effort to receive salvation. You have to become soul conscious. The Father is the Highest on High, and yet look how He enters an impure body in the impure world! He is invited to come into the impure world. When Ravan has made everyone totally corrupt, the Father comes and makes you elevated. Those who make effort well become kings and queens whereas those who don’t make any effort become poor ones. Because it is not in their fortune, they are unable to make effort. Some make their fortune very good. Each one of you can examine yourself: What service do I do? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become rup and basant and always let jewels emerge from your lips. Become very, very sweet. Never let stones (bad words) emerge from your lips.
  2. Become clever in knowledge and yoga and benefit yourself and others. Make effort to make your fortune elevated. Become a stick for the blind.
Blessing: May you be an image that grants visions by giving a vision of your angelic form while you stay in the expansion of your household.
While in the expansion of your household, practise merging the expansion and staying beyond. One moment, carry out a physical task and the next moment, become bodiless. This practice will give a vision of your angelic form. By your being in the highest stage, the gross things will be experienced as trivial. By being up above, you will become free from being low; you will be saved from labouring. Time will be saved and fast service will take place. Your intellect will become so broad and unlimited that you will be able to carry out many tasks at the same time.
Slogan: In order to be happy all the time, continue to pour the oil of knowledge into the lamp of the soul.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 8 FEBRUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 February 2020

08-02-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – यह रूहानी हॉस्पिटल तुम्हें आधाकल्प के लिए एवरहेल्दी बनाने वाली है, यहाँ तुम देही-अभिमानी होकर बैठो”
प्रश्नः- धन्धा आदि करते भी कौन-सा डायरेक्शन बुद्धि में याद रहना चाहिए?
उत्तर:- बाप का डायरेक्शन है तुम किसी साकार वा आकार को याद नहीं करो, एक बाप की याद रहे तो विकर्म विनाश हों। इसमें कोई ये नहीं कह सकता कि फुर्सत नहीं। सब कुछ करते भी याद में रह सकते हो।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति बाप का गुडमॉर्निग। गुडमॉर्निग के बाद बच्चों को कहा जाता है बाप को याद करो। बुलाते भी हैं-हे पतित-पावन आकर पावन बनाओ तो बाप पहले-पहले ही कहते हैं-रूहानी बाप को याद करो। रूहानी बाप तो सबका एक ही है। फादर को कभी सर्वव्यापी नहीं माना जाता है। तो जितना हो सके बच्चे पहले-पहले बाप को याद करो, कोई भी साकार वा आकार को याद नहीं करो, सिवाए एक बाप के। यह तो बिल्कुल सहज है ना। मनुष्य कहते हैं हम बिजी रहते हैं, फुर्सत नहीं। परन्तु इसमें तो फुर्सत सदैव है। बाप युक्ति बतलाते हैं यह भी जानते हो बाप को याद करने से ही हमारे पाप भस्म होंगे। मुख्य बात है यह। धन्धे आदि की कोई मना नहीं है। वह सब करते हुए सिर्फ बाप को याद करो तो विकर्म विनाश हों। यह तो समझते हैं हम पतित हैं, साधू-सन्त ऋषि-मुनि आदि सब साधना करते हैं। साधना की जाती है भगवान से मिलने की। सो जब तक उनका परिचय न हो तब तक तो मिल नहीं सकते। तुम जानते हो बाप का परिचय दुनिया में कोई को भी नहीं है। देह का परिचय तो सबको है। बड़ी चीज़ का परिचय झट हो जाता है। आत्मा का परिचय तो जब बाप आये तब समझाये। आत्मा और शरीर दो चीज़ें हैं। आत्मा एक स्टॉर है और बहुत सूक्ष्म है। उनको कोई देख नहीं सकते। तो यहाँ जब आकर बैठते हैं तो देही-अभिमानी होकर बैठना है। यह भी एक हॉस्पिटल है ना – आधाकल्प के लिए एवरहेल्दी होने की। आत्मा तो है अविनाशी, कभी विनाश नहीं होती। आत्मा का ही सारा पार्ट है। आत्मा कहती है मैं कभी विनाश को नहीं पाती हूँ। इतनी सब आत्मायें अविनाशी हैं। शरीर है विनाशी। अब तुम्हारी बुद्धि में यह बैठा हुआ है कि हम आत्मा अविनाशी हैं। हम 84 जन्म लेते हैं, यह ड्रामा है। इसमें धर्म स्थापक कौन-कौन कब आते हैं, कितने जन्म लेते होंगे यह तो जानते हो। 84 जन्म जो गाये जाते हैं जरूर किसी एक धर्म के होंगे। सभी के तो हो न सके। सब धर्म इकट्ठे तो आते नहीं। हम दूसरों का हिसाब क्यों बैठ निकालें? जानते हैं फलाने-फलाने समय पर धर्म स्थापन करने आते हैं। उसकी फिर वृद्धि होती है। सब सतोप्रधान से तमोप्रधान तो होने ही हैं। दुनिया जब तमोप्रधान होती है तब फिर बाप आकर सतोप्रधान सतयुग बनाते हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो हम भारतवासी ही फिर नई दुनिया में आकर राज्य करेंगे, और कोई धर्म नहीं होगा। तुम बच्चों में भी जिनको ऊंच मर्तबा लेना है वह जास्ती याद में रहने का पुरूषार्थ करते हैं और समाचार भी लिखते हैं कि बाबा हम इतना समय याद में रहता हूँ। कई तो पूरा समाचार लज्जा के मारे देते नहीं। समझते हैं बाबा क्या कहेंगे। परन्तु मालूम तो पड़ता है ना। स्कूल में टीचर स्टूडेन्ट्स को कहेंगे ना कि तुम अगर पढ़ेंगे नहीं तो फेल हो जायेंगे। लौकिक माँ-बाप भी बच्चे की पढ़ाई से समझ जाते हैं, यह तो बहुत बड़ा स्कूल है। यहाँ तो नम्बरवार बिठाया नहीं जाता है। बुद्धि से समझा जाता है, नम्बरवार तो होते ही हैं ना। अब बाबा अच्छे-अच्छे बच्चों को कहाँ भेज देते हैं, वह फिर चले जाते हैं तो दूसरे लिखते हैं हमको महारथी चाहिए, तो जरूर समझते हैं वह हमसे होशियार नामीग्रामी हैं। नम्बरवार तो होते हैं ना। प्रदर्शनी में भी अनेक प्रकार के आते हैं तो गाइड्स भी खड़े रहने चाहिए जांच करने के लिए। रिसीव करने वाले तो जानते हैं यह किस प्रकार का आदमी है। तो उनको फिर इशारा करना चाहिए कि इनको तुम समझाओ। तुम भी समझ सकते हो फर्स्ट ग्रेड, सेकेण्ड ग्रेड, थर्ड ग्रेड सब हैं। वहाँ तो सबकी सर्विस करनी ही है। कोई बड़ा आदमी है तो जरूर बड़े आदमी की खातिरी तो सब करते ही हैं। यह कायदा है। बाप अथवा टीचर बच्चों की क्लास में महिमा करते हैं, यह भी सबसे बड़ी खातिरी है। नाम निकालने वाले बच्चों की महिमा अथवा खातिरी की जाती है। यह फलाना धनवान है, रिलीजस माइन्डेड है, यह भी खातिरी है ना। अब तुम यह जानते हो ऊंच ते ऊंच भगवान है। कहते भी हैं बरोबर ऊंच ते ऊंच है, परन्तु फिर बोलो उनकी बायोग्राफी बताओ तो कह देंगे सर्वव्यापी है। बस एकदम नीचे कर देते हैं। अब तुम समझा सकते हो सबसे ऊंचे ते ऊंच है भगवान, वह है मूलवतन वासी। सूक्ष्मवतन में हैं देवतायें। यहाँ रहते हैं मनुष्य। तो ऊंच ते ऊंच भगवान वह निराकार ठहरा।

अभी तुम जानते हो हम जो हीरे मिसल थे सो फिर कौड़ी मिसल बन पड़े हैं फिर भगवान को अपने से भी जास्ती नीचे ले गये हैं। पहचानते ही नहीं हैं। तुम भारतवासियों को ही पहचान मिलती है फिर पहचान कम हो जाती है। अभी तुम बाप की पहचान सबको देते जाते हो। ढेरों को बाप की पहचान मिलेगी। तुम्हारा मुख्य चित्र है ही यह त्रिमूर्ति, गोला, झाड़। इनमें कितनी रोशनी है। यह तो कोई भी कहेंगे यह लक्ष्मी-नारायण सतयुग के मालिक थे। अच्छा, सतयुग के आगे क्या था? यह भी अभी तुम जानते हो। अभी है कलियुग का अन्त और है भी प्रजा का प्रजा पर राज्य। अभी राजाई तो है नहीं, कितना फर्क है। सतयुग के आदि में राजायें थे और अभी कलियुग में भी राजायें हैं। भल कोई वह पावन नहीं हैं परन्तु कोई पैसा देकर भी टाइटल ले लेते हैं। महाराजा तो कोई है नहीं, टाइटल खरीद कर लेते हैं। जैसे पटियाला का महाराजा, जोधपुर, बीकानेर का महाराजा……. नाम तो लेते हैं ना। यह नाम अविनाशी चला आता है। पहले पवित्र महाराजायें थे, अब हैं अपवित्र महाराजायें। अक्षर चला आता है। इन लक्ष्मी-नारायण के लिए कहेंगे यह सतयुग के मालिक थे, किसने राज्य लिया? अभी तुम जानते हो राजाई की स्थापना कैसे होती है। बाप कहते हैं मैं तुमको अभी पढ़ाता हूँ – 21 जन्मों के लिए। वह तो पढ़कर इसी जन्म में ही बैरिस्टर आदि बनते हैं। तुम अभी पढ़कर भविष्य महाराजा-महारानी बनते हो। ड्रामा प्लैन अनुसार नई दुनिया की स्थापना हो रही है। अभी है पुरानी दुनिया। भल कितने भी अच्छे-अच्छे बड़े महल हैं परन्तु हीरे-जवाहरातों के महल तो बनाने की कोई में ताकत नहीं है। सतयुग में यह सब हीरे-जवाहरातों के महल बनाते हैं ना। बनाने में कोई देरी थोड़ेही लगती है। यहाँ भी अर्थक्वेक आदि होती है तो बहुत कारीगर लगा देते हैं, एक-दो वर्ष में सारा शहर खड़ा कर देते हैं। नई देहली बनाने में करके 8-10 वर्ष लगे परन्तु यहाँ के लेबर और वहाँ के लेबर्स में तो फ़र्क रहता है ना। आजकल तो नई-नई इन्वेन्शन भी निकालते रहते हैं। मकान बनाने की साइन्स का भी ज़ोर है, सब कुछ तैयार मिलता है, झट फ्लैट तैयार। बहुत जल्दी-जल्दी बनते हैं तो यह सब वहाँ काम में तो आते हैं ना। यह सब साथ चलने हैं। संस्कार तो रहते हैं ना। यह साइंस के संस्कार भी चलेंगे। तो अब बाप बच्चों को समझाते रहते हैं, पावन बनना है तो बाप को याद करो। बाप भी गुडॅमार्निग कर फिर शिक्षा देते हैं। बच्चे बाप की याद में बैठे हो? चलते फिरते बाप को याद करो क्योंकि जन्म-जन्मान्तर का सिर पर बोझा है। सीढ़ी उतरते-उतरते 84 जन्म लेते हैं। अभी फिर एक जन्म में चढ़ती कला होती है। जितना बाप को याद करते रहेंगे उतना खुशी भी होगी, ताकत मिलेगी। बहुत बच्चे हैं जिनको आगे नम्बर में रखा जाता है परन्तु याद में बिल्कुल रहते नहीं हैं। भल ज्ञान में तीखे हैं परन्तु याद की यात्रा है नहीं। बाप तो बच्चों की महिमा करते हैं। यह भी नम्बरवन में है तो जरूर मेहनत भी करते होंगे ना। तुम हमेशा समझो कि शिवबाबा समझाते हैं तो बुद्धियोग वहाँ लगा रहेगा। यह भी सीखता तो होगा ना। फिर भी कहते हैं बाबा को याद करो। किसको भी समझाने के लिए चित्र हैं। भगवान कहा ही जाता है निराकार को। वह आकर शरीर धारण करते हैं। एक भगवान के बच्चे सब आत्मायें भाई-भाई हैं। अभी इस शरीर में विराजमान हैं। सभी अकालमूर्त हैं। यह अकालमूर्त (आत्मा) का तख्त है। अकालतख्त और कोई खास चीज़ नहीं है। यह तख्त है अकालमूर्त का। भृकुटी के बीच में आत्मा विराजमान होती है, इसको कहा जाता है अकालतख्त। अकालतख्त, अकालमूर्त का। आत्मायें सब अकाल हैं, कितनी अति सूक्ष्म हैं। बाप तो है निराकार। वह अपना तख्त कहाँ से लाये। बाप कहते हैं मेरा भी यह तख्त है। मैं आकर इस तख्त का लोन लेता हूँ। ब्रह्मा के साधारण बूढ़े तन में अकाल तख्त पर आकर बैठता हूँ। अभी तुम जान गये हो सब आत्माओं का यह तख्त है। मनुष्यों की ही बात की जाती है, जानवरों की तो बात नहीं। पहले जो मनुष्य जानवर से भी बदतर हो गये हैं, वह तो सुधरें। कोई जानवर की बात पूछे, बोलो पहले अपना तो सुधार करो। सतयुग में तो जानवर भी बड़े अच्छे फर्स्ट-क्लास होंगे। किचड़ा आदि कुछ भी नहीं होगा। किंग के महल में कबूतर आदि का किचड़ा हो तो दण्ड डाल दे। ज़रा भी किचड़ा नहीं। वहाँ बड़ी खबरदारी रहती है। पहरे पर रहते हैं, कभी कोई जानवर आदि अन्दर घुस न सके। बड़ी सफाई रहती है। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में भी कितनी सफाई रहती है। शंकर-पार्वती के मन्दिर में कबूतर भी दिखाते हैं। तो जरूर मन्दिर को भी खराब करते होंगे। शास्त्रों में तो बहुत दन्त कथायें लिख दी हैं।

अभी बाप बच्चों को समझाते हैं, उनमें भी थोड़े हैं जो धारणा कर सकते हैं। बाकी तो कुछ नहीं समझते। बाप बच्चों को कितना प्यार से समझाते हैं-बच्चे, बहुत-बहुत मीठे बनो। मुख से सदैव रत्न निकलते रहें। तुम हो रूप-बसन्त। तुम्हारे मुख से पत्थर नहीं निकलने चाहिए। आत्मा की ही महिमा होती है। आत्मा कहती है-मैं प्रेजीडेण्ट हूँ, फलाना हूँ…….। मेरे शरीर का नाम यह है। अच्छा, आत्मायें किसके बच्चे हैं? एक परमात्मा के। तो जरूर उनसे वर्सा मिलता होगा। वह फिर सर्वव्यापी कैसे हो सकता है! तुम समझते हो हम भी पहले कुछ नहीं जानते थे। अभी कितनी बुद्धि खुली है। तुम कोई भी मन्दिर में जायेंगे, समझेंगे यह तो सब झूठे चित्र हैं। 10 भुजाओं वाला, हाथी की सूँढ़ वाला कोई चित्र होता है क्या! यह सब है भक्ति मार्ग की सामग्री। वास्तव में भक्ति होनी चाहिए एक शिवबाबा की, जो सबका सद्गति दाता है। तुम्हारी बुद्धि में हैं-यह लक्ष्मी-नारायण भी 84 जन्म लेते हैं। फिर ऊंच ते ऊंच बाप ही आकर सबको सद्गति देते हैं। उनसे बड़ा कोई है नहीं। यह ज्ञान की बातें तुम्हारे में भी नम्बरवार धारण कर सकते हैं। धारणा नहीं कर सकते तो बाकी क्या काम के रहे। कई तो अन्धों की लाठी बनने के बदले अन्धे बन जाते हैं। गऊ जो दूध नहीं देती तो उसे पिंजरपुर में रखते हैं। यह भी ज्ञान का दूध नहीं दे सकते हैं। बहुत हैं, जो कुछ पुरूषार्थ नहीं करते। समझते नहीं कि हम कुछ तो किसका कल्याण करें। अपनी तकदीर का ख्याल ही नहीं रहता है। बस जो कुछ मिला सो अच्छा। तो बाप कहेंगे इनकी तकदीर में नहीं है। अपनी सद्गति करने का पुरूषार्थ तो करना चाहिए। देही-अभिमानी बनना है। बाप कितना ऊंच ते ऊंच है और आते देखो कैसे पतित दुनिया, पतित शरीर में हैं। उनको बुलाते ही पतित दुनिया में हैं। जब रावण दु:ख देते हैं तो बिल्कुल ही भ्रष्ट कर देते हैं, तब बाप आकर श्रेष्ठ बनाते हैं। जो अच्छा पुरूषार्थ करते हैं वह राजा-रानी बन जाते हैं, जो पुरूषार्थ नहीं करते वह गरीब बन जाते हैं। तकदीर में नहीं है तो तदबीर कर नहीं सकते। कोई तो बहुत अच्छी तकदीर बना लेते हैं। हर एक अपने को देख सकते हैं कि हम क्या सर्विस करते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) रूप-बसन्त बन मुख से सदैव रत्न निकालने हैं, बहुत-बहुत मीठा बनना है। कभी भी पत्थर (कटु वचन) नहीं निकालना है।

2) ज्ञान और योग में तीखा बन अपना और दूसरों का कल्याण करना है। अपनी ऊंच तकदीर बनाने का पुरूषार्थ करना है। अन्धों की लाठी बनना है।

वरदान:- प्रवृत्ति के विस्तार में रहते फरिश्ते पन का साक्षात्कार कराने वाले साक्षात्कार मूर्त भव
प्रवृत्ति का विस्तार होते हुए भी विस्तार को समेटने और उपराम रहने का अभ्यास करो। अभी-अभी स्थूल कार्य कर रहे हैं, अभी-अभी अशरीरी हो गये-यह अभ्यास फरिश्ते पन का साक्षात्कार करायेगा। ऊंची स्थिति में रहने से छोटी-छोटी बातें व्यक्त भाव की अनुभव होंगी। ऊंचा जाने से नीचापन आपेही छूट जायेगा। मेहनत से बच जायेंगे। समय भी बचेगा, सेवा भी फास्ट होगी। बुद्धि इतनी विशाल हो जायेगी जो एक समय पर कई कार्य कर सकती है।
स्लोगन:- खुशी को कायम रखने के लिए आत्मा रूपी दीपक में ज्ञान का घृत रोज़ डालते रहो।

TODAY MURLI 8 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 8 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 7 February 2019 :- Click Here

08/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, I am always beyond sound. I have come to take you children beyond sound. It is now the stage of retirement for all of you. You now have to go home, beyond sound.
Question: Whom would you call a good effort-making student? What are the main signs?
Answer: A good effort-making student is one who knows how to talk to himself and how to study subtly. Effort-making students would continually check themselves: Do I have any devilish nature in me? To what extent have I imbibed divine virtues? Do I have any criminal thoughts? They would keep their register to see to what extent they constantly have the vision of brotherhood.

Om shanti. Baba explains to the spiritual children who are making effort to go beyond sound, that is, who are making effort to go home. That is the home of all souls. You understand that you now have to shed those bodies and return home. The Father says: I have come to take you back home. This is why you have to remain beyond those bodies and bodily relationships. This is a dirty world. The soul knows that he now has to return home. The Father has come to purify you. We have to go to the pure world once again. You should churn this ocean of knowledge inside you. No one else would have such thoughts. You know that you will willingly shed those bodies, return home and then go back into the new world in new, pure relationships. Very few have this awareness. The Father says: All – young, mature and old – have to return home and then go back into the new world of pure relationships. It should repeatedly enter your intellects that you are now making preparations to return home. Those who do something will return with Baba. Those who do something now in the name of God will become multi-millionaires in the new world. Those people do everything indirect ly in this old world. They believe that God will give them the fruit of that. The Father now explains to you that they only receive temporary fruit. I have now come and I advise you: Those who give now will receive the return of that as multi-millions for 21 births. You understand that you will go and take birth in a grand home or that you will become Narayan or Lakshmi. So, then, you also have to make that much effort. We are making preparations to leave this dirty old world. We have to renounce this old world and these old bodies. You should remain ready to such an extent that you don’t remember anyone else at the end. If you remember the old world or your friends and relatives etc., what would be your state? It is said: Those who remember a woman at the end… This is why you should follow the father. It isn’t that Baba thinks he has to shed his body because he is old. No, all of you are old; it is everyone’s stage of retirement. Everyone has to return home. This is why the Father says: Break your intellects’ yoga away from this old world. You now have to return to your home. You will then stay there for as long as you have to stay there. The later you have to play your part, the later you will adopt a body and play your par t. Some would even remain in the land of peace for 5000 years less a hundred years; they would come at the end. When someone sacrifices himself at Kashi, all his sins are absolved. How many sins would those who come at the end accumulate? They would come and go, but no one can receive eternal liberation. What would they do staying there? They definitely have to play their parts. Your parts are to come at the beginning. So the Father says: Children, continue to forget this old world. You now have to return home. Your parts of 84 births have ended. You have become impure. You now have to consider yourselves to be souls and remember the Father. Imbibe divine virtues. The Father explains: Children, continue to check yourselves: Do I have a devilish nature? Your nature should be divine. Keep a chart for this and it will become firm. However, Maya is such that she doesn’t allow you to keep a chart. You keep it for two to four days and then leave it, because it is not in your fortune. If it is in your fortune, you keep your register very well. They definitely keep a register at school. Here, too, all of you at all the centres have to keep your chart or register. Then, check whether you attend daily. Am I imbibing divine virtues? You have to go higher than the relationship of brother and sister. There has to be just the spiritual vision of brotherhood. I am a soul. There should be no criminal vision. The relationship of brother and sister is because you are Brahma Kumars and Kumaris. You are the children of the one Father. It is only at this confluence age that you stay in the relationship of brother and sister so that the vision of vice ends. You must only remember the one Father. You have to go beyond sound. To talk to yourself in this way is to study subtly. There is no need to make any sound. It is in order to explain to you children that Baba has to come into sound. He also has to explain to you in order for you to go beyond sound. You now have to return home. You called out to the Father to come and take you back with Him: We are impure and so cannot return home. Who in the impure world can make us pure? Sages and holy men etc. cannot make you pure. They themselves go and bathe in the Ganges to become pure. They don’t even know the Father. Those who knew Him in the previous cycle are the ones who make effort now. No one except the Father can inspire you to make this effort. The Father is the highest of all. Look at the state human beings have reached by saying that such a Father is in the pebbles and stones. They have continued to come down the ladder. On the one hand, they are completely viceless and on the other hand, those people are completely vicious. Only those who believed these things in the previous cycle will believe them now. It is your duty to tell the Father’s orders to everyone who comes here. Explain the picture of the ladder. It is now the stage of retirement for everyone. Everyone will now go to the land of peace or the land of happiness. Those souls who make themselves completely pure with the power of their intellects’ yoga will go to the land of happiness. The ancient yoga of Bharat has been remembered. The soul has now also remembered that he truly did come here first and that he now has to return home. You now remember your parts. Those who do not become part of this clan do not remember that they have to become pure. It is for becoming pure that you have to make effort. The Father says: Consider yourselves to be souls and remember Me and you will become conquerors of sin and consider yourselves to be brothers and sisters and your vision will change. Your vision isn’t bad in the golden age. The Father continues to explain: Children, each of you should ask yourself: Am I a golden-aged deity or an iron-aged human being? You children have to make very good pictures and slogans etc. One picture should ask the question: Are you golden aged or iron aged? The second picture should ask another question. You should create this enthusiasm everywhere. The Father is giving you shrimat to make impure ones pure. However, what would I know about your business etc? You called out to the Father to come and show you the path to change from human beings into deities. I come and show you this. It is such a simple matter! The signal I give you is very easy: Manmanabhav! Consider yourself to be a soul and remember the Father. Because of not understanding the meaning of this, they have said that the Ganges is the Purifier. It is the Father who is the Purifier. It is now the time of settlement for everyone. I enable you to settle your karmic accounts and I take you back home. You understand when the Father explains, but, if this is not in your fortune, you fall. The Father says: Consider yourselves to be brothers and sisters. You should never have bad vision. Some have the evil spirit of lust; others have the evil spirit of greed. Sometimes, when they see good food they are tempted by that. When they see someone selling roasted chick peas they want to eat some. Then, if you do eat those, because you are weak you are quickly affected and your intellect becomes corrupted. You should follow those to whom the Mother, Father and the special ones give a certificate. You should eat whatever you receive from the yagya considering that to be very sweet. You must not get tempted. Yoga is also needed. If there isn’t yoga, you would say, “I have to eat this, otherwise, I will fall ill.” It should remain in your intellects that you have come here to become deities. You now have to return home and you will go and become a baby in your mother’s womb. Whatever the mother eats and drinks, that affects the baby in her womb. None of these things exist there. There, everything will be first class. Our mothers will eat first-class things which will give us nourishment. There, everything is firstclass. When you take birth, your food and drink are pure. So, you should make preparations to go to such a heaven. You have to remember the Father. The Father comes and rejuvenates you. Those people put monkey gland s into human beings believing that they will become young, just as they have hearttransplants. The Father doesn’t give you another heart. He comes and changes you. All of that is science. They continue to manufacture bombs etc. All of those things will destroy the world. Those are tamopradhan intellects. They are happy that that destiny is created. The bombs definitely have to be made. In the scriptures, it is written that missiles emerged from their stomachs and that such and such happened. The Father has now explained that all of those things are the path of devotion. I alone taught you Raj Yoga. That is just a story. By listening to it, your state has become what it is. The Father is now telling you the story of the true Narayan, the story of the third eye and the story of immortality. You attain that status by studying this study. However, there isn’t a Krishna etc. like they have shown him, spinning a discus and killing everyone with it. I simply teach you Raj Yoga and purify you. I make you into spinners of the discus of self-realisation. They have shown Krishna with a discus. How would he spin the discus of self-realisation? It is not a question of magic. All of that is defamation. That continues for half the cycle. The drama is so wonderful. It is now the stage of retirement for all, young and old. We now have to return home and we therefore have to remember the Father. Nothing else should be remembered. Only when you have such a stage can you attain a high status. You should ask your heart: To what extent is my register OK? You can tell from the register about your activities, whether you study regularly or not. Some even tell lies. The Father says: Tell the truth. If you don’t, your register will be spoilt. You promise God that you will become pure. So, if you then break that promise, what would your state become? If you fall into vice, the whole play is over. The first enemy is body consciousness, then lust, then anger. One’s attitude becomes impure when there is body consciousness. This is why the Father says: May you be soul conscious. This one is Arjuna. He is also the Krishna soul. The name of the one He entered was changed. His name is not Arjuna. People say that this tree etc. is all your imagination. Whatever you people imagine, you will then see that at some point. You children should be very happy that you will go to heaven and become small children again. Then your name, form, land and time etc. will all be new. This is the unlimited drama. That which is predestined is taking place again. It has to happen, so why should we worry? You children now have the secrets of the drama in your intellects. No one else, except you Brahmins knows these. At this time, all the people in the world are worshippers. Where there are worshippers, there cannot be a single person who is worthy of worship. The worthy-of-worship ones exist in the golden and silver ages. In the iron age, there are worshippers, so how can you call yourselves worthy of worship? Only the deities are worthy of worship. Human beings are worshippers. The Father explains the main thing: If you want to become pure, constantly remember Me alone. However much effort someone made according to the drama, that is how much effort he will make. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep a register of how you study. Look at your chart to see: To what extent do I have the vision of brotherhood? Has my nature become divine?
  2. Keep a lot of control over your tongue (taste and food). It should remain in your intellects that you are becoming deities and that you therefore have to pay a lot of attention to your food and drink. Your taste buds should not cause mischief. You have to follow the Mother and Father.
Blessing: May you be an intense effort-maker and remain constantly ever ready by considering every moment to be your final moment.
There is no guarantee about your final moment and so you must consider every moment to be your final moment and remain ever ready. To be ever ready means to be an intense effort-maker. Do not think that destruction will still take some time and that you will be ready by then. No; every moment is the final moment and so, when you remain constantly free from attachment, free from sinful and wasteful thoughts you will then be said to be ever ready. No matter what task still remains, let your stage always remain beyond and whatever happens will then be good.
Slogan: To take the law into your own hands is to have a trace of anger.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 8 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 February 2019

To Read Murli 7 February 2019 :- Click Here
08-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – मैं सदा वाणी से परे हूँ, मैं आया हूँ तुम बच्चों को उपराम बनाने, अभी तुम सबकी वानप्रस्थ अवस्था है, अब वाणी से परे घर जाना है”
प्रश्नः- अच्छा पुरूषार्थी स्टूडेन्ट किसको कहेंगे? उनकी मुख्य निशानी सुनाओ?
उत्तर:- अच्छा पुरूषार्थी स्टूडेन्ट वह, जो अपने आपसे बातें करना जानता हो, सूक्ष्म स्टडी करता हो। पुरुषार्थी स्टूडेन्ट सदा अपनी जाँच करते रहेंगे कि हमारे में कोई आसुरी स्वभाव तो नहीं है? दैवीगुण कहाँ तक धारण किये हैं? वह अपना रजिस्टर रखते हैं कि भाई-भाई की दृष्टि सदा रहती है? क्रिमिनल ख्यालात तो नहीं चलते हैं?

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति, जो भी वाणी से परे जाने लिए, गोया घर जाने के लिए पुरुषार्थ कर रहे हैं। वह सभी आत्माओं का घर है। तुम समझते हो अभी हमको यह शरीर छोड़कर घर जाना है। बाप कहते हैं मैं आया हूँ तुमको घर ले जाने अर्थ, इसीलिए इस देह और देह के सम्बन्धों से उपराम होना है। यह तो छी-छी दुनिया है। यह भी आत्मा जानती है हमको अब जाना है। बाप आया है पावन बनाने के लिए। फिर से हमको पावन दुनिया में जाना है। यह अन्दर में विचार सागर मंथन होना चाहिए। और कोई को ऐसे विचार नहीं आयेगा। तुम समझते हो हम खुद अपनी दिल से यह शरीर छोड़ अपने घर जाकर फिर नए पवित्र सम्बन्ध में, नई दुनिया में आयेंगे। यह स्मृति भी बहुत थोड़ों को रहती है। बाप कहते हैं छोटे, बड़े, बुढ़े आदि सबको वापिस चलना है। फिर नई दुनिया के पावन सम्बन्ध में आना है। घड़ी-घड़ी बुद्धि में आना चाहिए कि हम अब घर जाने के लिए तैयारी कर रहे हैं। जो करेंगे वो ही साथ चलेंगे। जो अभी ईश्वर अर्थ करते हैं वह जाकर पद्मापद्मपति बनते हैं नई दुनिया में। वह लोग इस पुरानी दुनिया में इनडायरेक्ट करते हैं। समझते हैं ईश्वर इसका फल देंगे। अब बाप समझाते हैं वह तुमको अल्पकाल क्षण भंगुर मिलता है। अब मैं आया हूँ, तुमको राय देता हूँ – अभी जो देंगे वह तुमको 21 जन्म के लिए पद्म होकर मिलेगा। तुम समझते हो बड़े घर में जाकर जन्म लेंगे। हम तो नारायण अथवा लक्ष्मी बनेंगे। तो फिर इतनी मेहनत करनी चाहिए। हम इस पुरानी छी-छी दुनिया से जाने के लिए तैयारी कर रहे हैं। यह पुरानी दुनिया, पुराना शरीर छोड़ना है। ऐसा तैयार रहना चाहिए जो पिछाड़ी के समय कोई भी याद न आये। अगर पुरानी दुनिया वा मित्र-सम्बन्धी आदि याद आये तो क्या गति होगी? तुम कहते हो ना अन्तकाल जो स्त्री सिमरे…. इसलिए बाप को फॉलो करना चाहिए। ऐसे नहीं, बाबा बूढ़ा है तब समझते हैं यह शरीर छोड़ना ही है। नहीं, तुम सब बुढ़े हो। सबकी वानप्रस्थ अवस्था है, सबको वापिस जाना है इसलिए बाप कहते हैं इस पुरानी दुनिया से बुद्धियोग तोड़ दो। अब तो जाना है अपने घर। फिर जितना वहाँ ठहरना होगा उतना वहाँ ठहरेंगे। जितना पीछे पार्ट होगा तो पीछे शरीर धारण कर पार्ट बजायेंगे। कोई तो 100 वर्ष कम 5 हज़ार वर्ष भी शान्तिधाम में रहेंगे। पिछाड़ी को आयेंगे। जैसे काशी कलवट खाते हैं, सब पाप झट खलास हो जाते हैं। पिछाड़ी में आने वालों के पाप क्या होंगे! आये और गये। बाकी मोक्ष कोई को मिल न सके। वहाँ रहकर क्या करेंगे। पार्ट तो जरूर बजाना ही है। तुम्हारा पार्ट है शुरू में आने का। तो बाप कहते हैं – बच्चे, इस पुरानी दुनिया को भूलते जाओ। अब तो चलना है, 84 का पार्ट पूरा हुआ। तुम पतित बन गये हो। अब फिर अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। दैवीगुण भी धारण करो।

बाप समझाते हैं – बच्चे, अपनी जाँच करते रहो – हमारे में कोई आसुरी स्वभाव तो नहीं है? तुम्हारा दैवी स्वभाव होना चाहिए। उसके लिए चार्ट रखो तो पक्के होते जायेंगे। परन्तु माया ऐसी है जो चार्ट रखने नहीं देती। दो-चार दिन रखकर फिर छोड़ देते हैं क्योंकि तकदीर में नहीं है। तकदीर में होगा तो बहुत अच्छी रीति रजिस्टर रखेंगे। स्कूल में रजिस्टर जरूर रखते हैं। यहाँ भी सभी सेन्टर्स में सबका चार्ट, रजिस्टर रखना है। फिर देखना है हम रोज़ जाते हैं? दैवीगुण धारण करते हैं? भाई-बहन के सम्बन्ध से भी ऊंच जाना है। सिर्फ रूहानी दृष्टि भाई-भाई की चाहिए। हम आत्मा हैं। कोई की क्रिमिनल दृष्टि नहीं। भाई-बहन का सम्बन्ध भी इसलिए है क्योंकि तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियां हो। एक बाप के बच्चे हो। इस संगमयुग पर ही भाई-बहन के सम्बन्ध में रहते हैं। तो विकार की दृष्टि बन्द हो जाए। एक बाप को ही याद करना है। वाणी से भी परे जाना है। ऐसे-ऐसे अपने से बातें करना यह है सूक्ष्म स्टडी, इसमें आवाज़ करने की दरकार नहीं। यह तो बच्चों को समझाने के लिए आवाज़ में आना पड़ता है। वाणी से परे जाने लिए भी समझाना पड़ता है। अब वापिस जाना है। बाप को बुलाया है कि आओ, हमको साथ ले जाओ। हम पतित हैं, वापिस जा नहीं सकते। पतित दुनिया में अब पावन कौन बनाये! साधू-सन्त आदि कोई पावन बना न सकें। खुद ही पावन होने के लिए गंगा स्नान करते हैं। बाप को जानते नहीं। जिन्होंने कल्प पहले जाना है, वही अब पुरूषार्थ कर रहे हैं। यह पुरूषार्थ भी बाप बिना कोई करा नहीं सकता। बाप ही सबसे ऊंच है। ऐसे बाप को पत्थर ठिक्कर में कहने से मनुष्य का क्या हाल हो गया है! सीढ़ी उतरते ही आये हैं। कहाँ वह सम्पूर्ण निर्विकारी, कहाँ यह सम्पूर्ण विकारी। इन बातों को मानेंगे भी वह जिन्होंने कल्प पहले माना होगा। तुम्हारा फ़र्ज है जो भी आये उनको बाप का फ़रमान बताना। सीढ़ी के चित्र पर समझाओ। सभी की अब वानप्रस्थ अवस्था है। सभी शान्तिधाम और सुखधाम में जायेंगे। सुखधाम में वह जायेंगे जो आत्मा को बुद्धि-योग बल से सम्पूर्ण पवित्र बनायेंगे। भारत का प्राचीन योग भी गाया हुआ है। आत्मा को अब स्मृति आती है बरोबर हम पहले-पहले आये हैं। अब फिर वापिस जाना है। तुमको अपना पार्ट याद आता है। जो इस कुल में आने वाले नहीं हैं उनको याद भी नहीं आता है कि हमको पवित्र बनना है। पवित्र बनने में ही मेहनत करनी पड़ती है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो तो विकर्माजीत बनेंगे और बहन-भाई समझो तो दृष्टि बदल जायेगी। सतयुग में दृष्टि खराब नहीं होती। बाप तो समझाते रहते हैं बच्चे अपने से पूछो – हम सतयुगी देवता हैं या कलियुगी मनुष्य हैं? तुम बच्चों को बहुत अच्छे-अच्छे चित्र, स्लोगन आदि बनाने चाहिए। एक कहे सतयुगी हो या कलियुगी? दूसरा फिर दूसरा प्रश्न पूछे, ऐसे धूम मचा देनी चाहिए।

बाप तो श्रीमत देते हैं पतितों को पावन बनाने की। बाकी धन्धे आदि से हम क्या जानें। बाप को बुलाया ही है कि आकर मनुष्य से देवता बनने का रास्ता बताओ, वह मैं आकर बताता हूँ। कितनी सिम्पुल बात है। इशारा ही बहुत सहज है – मनमनाभव। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। अर्थ न समझने कारण गंगा को पतित-पावनी समझ लिया है। पतित-पावन तो बाप है। अभी सभी के कयामत का समय है। हिसाब-किताब चुक्तू कराए वापिस ले जाते हैं। बाप समझाते हैं तो समझते भी हैं परन्तु तकदीर में नहीं है तो गिर पड़ते हैं। बाप कहते हैं भाई-बहन समझो, कभी खराब दृष्टि न जाये। किसको काम का भूत, लोभ का भूत आ जाता है, कभी अच्छा खाना (भोजन) देखा तो आसक्ति जाती है। चने वाला देखेंगे, दिल करेगी खाने की। फिर खा लिया तो कच्चे होने कारण जल्दी असर पड़ जाता है। बुद्धि भ्रष्ट हो जाती है। माँ-बाप, अनन्य बच्चे जिन्हों को सर्टीफिकेट देते हैं उनको फालो करना चाहिए। यज्ञ का जो मिले वह मीठा समझकर खाना चाहिए। जबान ललचायमान नहीं करनी है। योग भी चाहिए। योग नहीं होगा तो कहेंगे फलानी चीज़ खानी चाहिए, नहीं तो बीमार पड़ जायेंगे। बुद्धि में रहना चाहिए हम आए हैं देवता बनने के लिए। अब हमको वापिस घर जाना है। फिर बच्चा बनकर माँ की गोद में आयेंगे। माता का जो खान-पान होता है उसका असर बच्चे पर भी पड़ता है। वहाँ यह कुछ भी बातें होती नहीं। वहाँ सब कुछ फर्स्टक्लास होगा। हमारे लिए माता खाना आदि भी फर्स्टक्लास खायेगी, जो हमारे पेट में आयेगा। वहाँ तो है ही फर्स्टक्लास। जन्म लेने से ही खान-पान सब शुद्ध होता है। तो ऐसे स्वर्ग में जाने की तैयारी करनी चाहिए। बाप को याद करना है।

बाप आकर रिज्यूवनेट करते हैं। वह लोग तो बन्दर के ग्लान्स मनुष्य में डालते हैं। समझते हैं हम जवान हो जायेंगे। जैसे हार्ट नई डालते हैं। बाप कोई हार्ट नहीं डालते हैं। बाप तो आकर चेन्ज करते हैं। बाकी यह सब है साइन्स। बाम्ब्स आदि बनाते हैं। यह तो दुनिया को ही खलास करने की चीजें हैं। तमोप्रधान बुद्धि है ना। वह तो खुश होते हैं कि यह भी भावी बनी हुई है। बाम्ब्स जरूर बनने ही हैं। शास्त्रों में फिर लिखा हुआ है पेट से मूसल निकले, फिर यह हुआ। अब बाप ने समझाया है यह सब भक्ति मार्ग की बातें हैं। राजयोग तो मैंने ही सिखाया था। वह तो एक कहानी हो गई, जो सुनते-सुनते यह हाल हो गया है। अभी बाप सच्ची सत्य नारायण की कथा, तीजरी की कथा, अमरनाथ की कथा सुना रहे हैं। इस पढ़ाई से तुम यह पद पाते हो। बाकी कृष्ण आदि तो हैं नहीं, जो दिखाया है स्वदर्शन चक्र से सबको मारा। मैं तो सिर्फ राजयोग सिखलाकर पावन बनाता हूँ। हम तुमको स्वदर्शन चक्रधारी बनाते हैं। उन्होंने फिर कृष्ण को चक्र आदि दिखाया है। स्वदर्शन चक्र फिरायेंगे कैसे? जादू की थोड़ेही बात है। यह तो सब ग्लानी है ना। सो भी आधाकल्प चलती है। कैसा वन्डरफुल ड्रामा है। अभी छोटे-बड़े सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। अब हमको जाना है इसलिए बाप को याद करना है। दूसरा कुछ भी याद न आये। ऐसी अवस्था हो तब ऊंच पद पा सको। अपनी दिल से पूछना चाहिए – हमारा रजिस्टर कहाँ तक ठीक है? रजिस्टर से चलन का मालूम पड़ेगा – रेग्युलर पढ़ते हैं वा नहीं? कई तो झूठ भी बोल देते हैं। बाप कहते हैं सच बताओ, नहीं बतायेंगे तो तुम्हारा ही रजिस्टर खराब होगा। भगवान् से पवित्र बनने की प्रतिज्ञा कर फिर तोड़ते हो तो तुम्हारा क्या हाल होगा। विकार में गिरे तो खेल खलास। पहला नम्बर दुश्मन है देह-अभिमान, फिर काम, क्रोध। देह-अभिमान में आने से ही वृत्ति खराब होती है इसलिए बाप कहते हैं – देही-अभिमानी भव। अर्जुन भी यह है ना। कृष्ण की ही आत्मा थी। अर्जुन नाम है थोड़ेही, नाम तो चेन्ज होता है, जिसमें प्रवेश करते हैं। मनुष्य तो कह देते हैं यह झाड़ आदि तुम्हारी कल्पना है। मनुष्य जो कल्पना करे वह देखने में आता है।

तुम बच्चों को बहुत खुशी होनी चाहिए – अब हम जाकर स्वर्ग में छोटे बच्चे बनते हैं। फिर नाम, रूप, देश, काल सब-कुछ नया होगा। यह बेहद का ड्रामा है। बनी बनाई बन रही। होना ही है फिर हम चिंता क्यों करें? ड्रामा का राज़ अब तुम बच्चों की बुद्धि में है। और कोई नहीं जानते, सिवाए तुम ब्राह्मणों के। दुनिया में इस समय सब पुजारी हैं। जहाँ पुजारी हैं वहाँ पूज्य एक भी हो नहीं सकता। पूज्य होते ही हैं सतयुग-त्रेता में। कलियुग में हैं पुजारी, फिर तुम अपने को पूज्य कैसे कहला सकते हो? पूज्य तो देवी-देवतायें ही हैं। पुजारी हैं मनुष्य। मूल बात बाप समझाते हैं – पावन बनना है तो मामेकम् याद करो। ड्रामा अनुसार जिसने जितना पुरुषार्थ किया होगा उतना ही करेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी पढ़ाई का रजिस्टर रखना है। अपना चार्ट देखना है कि हमारी भाई-भाई की दृष्टि कहाँ तक रहती है? हमारा दैवी स्वभाव बना है?

2) अपनी जबान पर बहुत कन्ट्रोल रखना है। बुद्धि में रहे कि हम देवता बन रहे हैं इसलिए खान-पान पर बहुत ध्यान देना है। जबान चलायमान नहीं होनी चाहिए। माँ-बाप को फालो करना है।

वरदान:- हर घड़ी को अन्तिम घड़ी समझ सदा एवररेडी रहने वाले तीव्र पुरूषार्थी भव
अपनी अन्तिम घड़ी का कोई भरोसा नहीं है इसलिए हर घड़ी को अन्तिम घड़ी समझते हुए एवररेडी रहो। एवररेडी अर्थात् तीव्र पुरुषार्थी। ऐसे नहीं सोचो कि अभी तो विनाश होने में कुछ टाइम लगेगा फिर तैयार हो जायेंगे। नहीं। हर घड़ी अन्तिम घड़ी है इसलिए सदा निर्मोही, निर्विकल्प, निरव्यर्थ.. व्यर्थ भी नहीं, तब कहेंगे एवररेडी। कोई भी कार्य रहे हुए हों लेकिन अपनी स्थिति सदा उपराम हो, जो होगा वो अच्छा होगा।
स्लोगन:- अपने हाथ में लॉ उठाना भी क्रोध का अंश है।
Font Resize