7 september ki murli

TODAY MURLI 7 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 7 September 2020

07/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to give you old devotees the fruit of your devotion. The fruit of devotion is knowledge through which you attain salvation.
Question: How do some children shoot their own fortune down whilst moving along?
Answer: If, after belonging to the Father, you don’t do service, if you don’t have mercy for yourself or others, you shoot your own fortune down, that is, you destroy your own status. If you study well and stay in yoga, you receive a good status. Serviceable children should have a lot of interest in doing service.
Song: Who has come here early in the morning?

Om shanti. You spiritual children understand that you are souls and not bodies. It is only at this time that you receive this knowledge from the Supreme Father, the Supreme Soul. The Father says: Since I have come, have the faith that you are souls. It is a soul that enters a body. Souls continue to shed their bodies and take others. Souls don’t change, bodies do; souls are imperishable. Therefore, consider yourselves to be souls. No one else can ever give you this knowledge. Having heard the call of the children, the Father has now come. No one even knows that this is the most elevated confluence age. The Father comes and explains: I have to come at the most elevated confluence age when the whole world is to become most elevated. At this time, the whole world is most degraded and impure. That world is called the land of immortality and this world is called the land of death. In the land of death, there are human beings with devilish traits whereas in the land of immortality there are human beings with divine virtues which is why they are called deities. Here, too, those who have good natures are said to be like deities. Some have divine virtues. At this time, all human beings have devilish traits; they are trapped in the five vices. That is why they sing: Come and liberate us from this sorrow. It wasn’t just one Sita who was liberated. Baba has explained that devotees are called Sita and that God is called Rama. He comes to give the devotees the fruit of their devotion. The whole world is trapped in this unlimited kingdom of Ravan. He comes and liberates them and takes them to the kingdom of Rama. It is not a question of King Rama of the silver-aged warrior clan. That king of the silver age is now tamopradhan and in the stage of total decay. He has come down the ladder and reached the bottom. From being worthy of worship he has become a worshipper. Deities do not worship anyone. They themselves are worthy of worship. Then, when they become merchants and shudras, worshipping begins. When they go onto the path of sin, they become worshippers. Worshippers bow down in front of the images of the deities. At this time not a single person is worthy of worship. God, the Highest on High, is worthy of worship and the golden-aged deities are worthy of worship. At this time, all are worshippers. First of all, there is the worship of Shiva. That is unadulterated worship. There is first satopradhan worship and then it becomes sato. Then, they move away from the deities and begin to worship water, human beings, birds etc. Day by day, there is worship of many things. Nowadays, there are many religious conferences – sometimes of the Adi Sanatan religion (original eternal ancient religion), sometimes of the Jains, sometimes of the Arya Samajis. They invite many people because everyone considers his own religion to be elevated. Because there is one or another special virtue in each religion, they consider themselves to be elevated. There are many varieties of Jains too; there must be at least five to seven varieties. Some of them even remain naked. They don’t understand the meaning of being naked. God speaks: To be naked means you came bodiless and that you have to return bodiless. So, they then remove their clothes and stay naked. They don’t understand the meaning of God’s versions. The Father says: You souls came here and adopted bodies to play your parts. You now have to return home. You children understand these things. Souls come here to play their parts. The tree continues to grow. Many new varieties of religion continue to emerge. That is why this is called a variety play. This is a tree of the variety of religions. Look at the religion of Islam: it has so many branches. Mohammed came later. First of all, there were those of Islam. The population of Muslims is now very large. Those in Africa are so wealthy! They have mines of gold and diamonds there. People attack a country that has a lot of wealth in order to acquire it. Christians too have become so wealthy! There is wealth in Bharat too, but that is incognito. They continue to confiscate so much gold etc. Now those of the Jain community continue to hold conferences because they all consider themselves to be elevated. All the religions continue to increase. At some time, destruction will definitely take place. They don’t understand anything. Of all the religions, your Brahmin religion, that no one knows about, is the most elevated. There are also many iron-aged brahmins. However, that creation is born through sin. All the mouth-born creation of Prajapita Brahma should be brothers and sisters. If they call themselves the children of Brahma, they must be brothers and sisters. Therefore, they cannot get married. So, this proves that those brahmins are not mouth-born creations of Brahma; they simply give themselves that name. In fact, you Brahmins are said to be even more elevated than the deities because you are the topknot. You Brahmins change human beings into deities. It is the Supreme Father, the Supreme Soul, who teaches you. He Himself is the Ocean of Knowledge. No one knows this. Some come to the Father and become Brahmins and they still become shudras tomorrow! It takes great effort to change old sanskars. You have to have the faith that you are a soul and that you have to claim your inheritance from the Father. It is the spiritual children who have to claim their inheritance from the spiritual Father. It is in your remembrance of the Father that Maya causes obstacles. The Father says: Let your hands do the work and let your heart remember the Father. This is very easy. It is just like a lover and beloved who are unable to stay without seeing one other. The Father is the Beloved. All the children who continue to remember the Father are the lovers. Only the one Father never becomes attracted to anyone because no one is higher than He is. However, He does praise the children and says: From the start of the path of devotion, all of you have been My lovers. You called out: Come and liberate us from sorrow and purify us! All of you are brides and I am the Bridegroom. All of you are trapped in the Devil’s jail and I have come to free you. A great deal of effort is required here. The criminal eye deceives you. Effort is needed in order to have civil eyes. The deities have such good characters! You definitely need someone to create such deities. The topic for the conference is: The need for religion in human life. Because of not knowing the drama, they are all confused. No one, except you, can explain this. Christians and Buddhists do not know when Christ or Buddha will come again. You can instantly tell them the accurate accounts. You should explain that there is a need for religion. Tell them which religion existed first and which religions then came after that. Even those of their own religion don’t understand this fully. They don’t have yoga. You cannot receive strength without having yoga; there is no power received. Only the Father is called the Almighty Authority. You become almighty to such an extent that you become the masters of the world; no one can snatch your kingdom away. At that time, there is no other country. There are now so many countries. How does this world cycle turn? This is a cycle of 5000 years. You cannot measure the world. You may be able to measure the earth; the ocean cannot be measured. No one can find the end of the sky or the ocean. Therefore, explain why there is such a need for religion. The whole cycle is based on the religions. This is the tree of the variety of religions. This tree (picture) is like a mirror for the blind. You are now going out on service. Gradually, the number of you is growing. When there are storms, many leaves fall. There is no question of storms in other religions. They have to come down from up there. Here, the establishment of your religion is so wonderful! God has to come to give the fruit to those devotees who came in the beginning by taking them back home. You called out: Take us souls back to our home! No one knows that the Father gives you your fortune of the kingdom of heaven. Sannyasis don’t believe in happiness; they want eternal liberation. Eternal liberation isn’t called an inheritance. Shiv Baba Himself has to play His partsohow could He keep anyone else in eternal liberation? You Brahma Kumars and Kumaris know your own religion and the religions of everyone else. You should have mercy for everyone. Explain the secrets of the cycle. Tell them: The founder of your religion will come again at his own time. Those who explain to others need to be clever. You can explain that everyone has to become satopradhan and then go through the stages of sato, rajo and tamo. It is now the kingdom of Ravan. Yours is the true Gita that the Father speaks to you. The incorporeal One is called God. Souls call out to incorporeal God, the Father. You souls reside there. You aren’t called the Supreme Soul: There is only the one Supreme Soul: God, the Highest on High. Then there are all the souls, the children. The Bestower of Salvation for All is One, and then there are the deities. Out of all of them, Krishna is number one because that soul and his body are both pure. You are confluence aged and your lives are invaluable. The lives of Brahmins are invaluable, not that of deities. The Father makes you His children and then makes so much effort on you; deities will not make that much effort. They simply send their children to school to have them educated. Here, the Father sits and teaches you. He is the Father, Teacher and Guru, all three. Therefore, you should have so much regard for Him! Serviceable children should have a lot of interest in doing service. There are very few who are clever in doing service and who stay busy doing serviceHands are needed. Those who are taught to go to war are released from their jobs etc. They have a list of all those people. No one can refuse the military and not go on to the battlefield. They are drilled and told that they can be called at a time of need. They file a case against any who refuse. That doesn’t apply here. Here, the status of those who don’t serve well is destroyed. Not to do service means to shoot oneself down and destroy one’s status. They shoot down their own fortune. If you study well and stay in yoga you can receive a good status. You have to have mercy for yourself. If you have mercy for yourself, you can also have mercy for others. The Father continues to give every type of explanation. Look how the play of this world continues. The kingdom is also being established. No one in the world knows these things. You are now receiving invitations. What would you be able to explain in five to ten minutes? If they were to give you one or two hours you could explain something. They don’t know the drama at all. You should write very good points everywhere. However, children forget to do this. The Father is the Creator. He creates you children; He has made you belong to Him. He becomes the Director and gives you directions. He gives you shrimat and then also acts by giving you knowledge. This is His highest-on-high act. What use are you if don’t know the Creator, Director and principal Actor of the drama? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have a great deal of regard for the Teacher who teaches you in this invaluable life. Become very clever in this study and stay busy doing service. Have mercy for yourself.
  2. In order to reform yourself, become civilised. Reform your character. Serve to change human beings into deities.
Blessing: May you be introspective and put the expansion of thoughts and words into their essence.
Pack up the expansion of waste thoughts and become stable in the stage of its essence, that is, merge the sound of waste through words and make it powerful, that is, put it into its essence; this is introspection. Such introspective children can show wandering souls their correct destination with their power of silence. This power of silence can show many beautiful, spiritual, colourful games. With the power of silence, you can hear the sounds in the minds of every soul so closely that it is as though they are speaking personally in front of you.
Slogan: To remain light in your nature, sanskars, relationships and connections means to become an angel.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

07-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – बाप आये हैं तुम पुराने भक्तों को भक्ति का फल देने। भक्ति का फल है ज्ञान, जिससे ही तुम्हारी सद्गति होती है”
प्रश्नः- कई बच्चे चलते-चलते तकदीर को आपेही शूट करते हैं कैसे?
उत्तर:- अगर बाप का बनकर सर्विस नहीं करते, अपने पर और दूसरों पर रहम नहीं करते तो वह अपनी तकदीर को शूट करते हैं अर्थात् पद भ्रष्ट हो जाते हैं। अच्छी रीति पढ़ें, योग में रहें तो पद भी अच्छा मिले। सर्विसएबुल बच्चों को तो सर्विस का बहुत शौक होना चाहिए।
गीत:- कौन आया सवेरे-सवेरे……..

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चे समझते हैं हम आत्मा हैं, न कि शरीर। और यह ज्ञान अभी ही मिलता है-परमपिता परमात्मा से। बाप कहते हैं जबकि मैं आया हूँ तो तुम अपने को आत्मा निश्चय करो। आत्मा ही शरीर में प्रवेश करती है। एक शरीर छोड़ दूसरा लेती रहती है। आत्मा नहीं बदलती, शरीर बदलता है। आत्मा तो अविनाशी है, तो अपने को आत्मा समझना है। यह ज्ञान कभी कोई दे न सके। बाप आये हैं बच्चों की पुकार पर। यह भी किसको पता नहीं है कि यह पुरूषोत्तम संगमयुग है। बाप आकर समझाते हैं मेरा आना होता है कल्प के पुरूषोत्तम संगमयुग पर जबकि सारा विश्व पुरूषोत्तम बनता है। इस समय तो सारा विश्व कनिष्ट पतित है। उसको कहा जाता है अमरपुरी, यह है मृत्युलोक। मृत्युलोक में आसुरी गुण वाले मनुष्य होते हैं, अमरलोक में दैवीगुण वाले मनुष्य हैं इसलिए उनको देवता कहा जाता है। यहाँ भी अच्छे स्वभाव वाले को कहा जाता है – यह तो जैसे देवता है। कोई दैवीगुण वाले होते हैं, इस समय सब हैं आसुरी गुण वाले मनुष्य। 5 विकारों में फंसे हुए हैं तब गाते हैं इस दु:ख से आकर लिबरेट करो। कोई एक सीता को नहीं छुड़ाया। बाबा ने समझाया है भक्ति को सीता कहा जाता, भगवान को राम कहा जाता। जो भक्तों को फल देने आता है। इस बेहद के रावण राज्य में सारी दुनिया फंसी हुई है। उन्हों को लिबरेट कर राम राज्य में ले जाते हैं। रघुपति राघव राजा राम की बात नहीं। वह तो त्रेता के राजा थे। अभी तो सभी आत्मायें तमोप्रधान जड़जड़ीभूत अवस्था में हैं, सीढ़ी उतरते-उतरते नीचे आ गये हैं। पूज्य से पुजारी बन गये हैं। देवतायें किसकी पूजा नहीं करते। वह तो हैं पूज्य। फिर वह जब वैश्य, शूद्र बनते हैं तो पूजा शुरू होती है, वाम मार्ग में आने से पुजारी बनते हैं, पुजारी देवताओं के चित्रों के आगे नमन करते हैं, इस समय कोई एक भी पूज्य हो नहीं सकता। ऊंच ते ऊंच भगवान पूज्य फिर है सतयुगी देवतायें पूज्य। इस समय तो सब पुजारी हैं, पहले-पहले शिव की पूजा होती है, वह है अव्यभिचारी पूजा। वह सतोप्रधान फिर सतो फिर देवताओं से भी उतर कर जल की, मनुष्यों की, पक्षियों आदि की पूजा करने लग पड़ते। दिन-प्रतिदिन अनेकों की पूजा होने लगती है। आजकल रिलीजस कान्फ्रेंस भी बहुत होती रहती हैं। कभी आदि सनातन धर्म वालों की, कभी जैनियों की, कभी आर्य समाजियों की। बहुतों को बुलाते हैं क्योंकि हर एक अपने धर्म को तो ऊंचा समझते हैं ना। हर एक धर्म में कोई न कोई विशेष गुण होने कारण वह अपने को बड़ा समझते हैं। जैनियों में भी किस्म-किस्म के होते हैं। 5-7 वैराइटी होंगी। उनमें फिर कोई नंगे भी रहते हैं, नंगे बनने का अर्थ नहीं समझते हैं। भगवानुवाच हैं नंगे अर्थात् अशरीरी आये थे, फिर अशरीरी बनकर जाना है। वह फिर कपड़े उतार कर नंगे बन जाते हैं। भगवानुवाच के अर्थ को नहीं समझते हैं। बाप कहते हैं तुम आत्मायें यहाँ यह शरीर धारण कर पार्ट बजाने आई हो, फिर वापिस जाना है, इन बातों को तुम बच्चे समझते हो। आत्मा ही पार्ट बजाने आती है, झाड़ वृद्धि को पाता रहता है। नये-नये किस्म के धर्म इमर्ज होते रहते हैं, इसलिए इनको वैराइटी नाटक कहा जाता है। वैराइटी धर्मों का झाड़ है। इस्लामी देखो कितने काले हैं। उन्हों की भी बहुत ब्रान्चेज निकलती हैं। मुहम्मद तो बाद में आये हैं। पहले हैं इस्लामी। मुसलमानों की संख्या बहुत है, अफ्रीका में कितने साहूकार हैं सोने-हीरों की खानियाँ हैं। जहाँ बहुत धन देखते हैं तो उस पर चढ़ाई कर धनवान बनते हैं। क्रिश्चियन लोग भी कितने धनवान बने हैं। भारत में भी धन है, परन्तु गुप्त। सोना आदि कितना पकड़ते रहते हैं। अब दिगम्बर जैन सभा वाले कान्फ्रेंस आदि करते रहते हैं, क्योंकि हर एक अपने को बड़ा समझते हैं ना। यह इतने धर्म सब बढ़ते रहते हैं, कभी विनाश भी होना है, कुछ भी समझते नहीं। सब धर्मों में ऊंच तो तुम्हारा ब्राह्मण धर्म ही है, जिसका किसको पता नहीं है। कलियुगी ब्राह्मण भी बहुत हैं, परन्तु वह हैं कुख वंशावली ब्राह्मण। प्रजापिता ब्रह्मा के मुख वंशावली ब्राह्मण, वह तो सब भाई-बहन होने चाहिए। अगर वह अपने को ब्रह्मा की औलाद कहलाते हैं, तो भाई-बहन ही ठहरे फिर शादी भी कर न सकें। सिद्ध होता है वह ब्राह्मण ब्रह्मा के मुख वंशावली नहीं हैं, सिर्फ नाम रख देते हैं। वास्तव में देवताओं से भी ऊंच ब्राह्मणों को कहेंगे, चोटी हैं ना। यह ब्राह्मण ही मनुष्यों को देवता बनाते हैं। पढ़ाने वाला है परमपिता परमात्मा, स्वयं ज्ञान का सागर। यह किसको भी पता नहीं है। बाप के पास आकर ब्राह्मण बनकर फिर भी कल शूद्र बन पड़ते हैं। पुराने संस्कार पलटने में बड़ी मेहनत लगती है। अपने को आत्मा निश्चय कर बाप से वर्सा लेना है, रूहानी बाप से रूहानी बच्चे ही वर्सा लेंगे। बाप को याद करने में ही माया विघ्न डालती है। बाप कहते हथ कार डे दिल यार डे। यह है बहुत सहज। जैसे आशिक-माशूक होते हैं जो एक-दो को देखने बिगर रह न सकें। बाबा तो माशूक ही है। आशिक सब बच्चे हैं जो बाप को याद करते रहते हैं। एक बाप ही है जो कभी किसी पर आशिक नहीं होता है क्योंकि उनसे ऊंच तो कोई है नहीं। बाकी हाँ बच्चों की महिमा करते हैं, तुम भक्ति मार्ग से लेकर मुझ माशूक के सब आशिक हो। बुलाते भी हो कि आकर दु:ख से लिबरेट कर पावन बनाओ। तुम सब हो ब्राइड्स, मैं हूँ ब्राइडग्रूम। तुम सब आसुरी जेल में फंसे हुए हो, मैं आकर छुड़ाता हूँ। यहाँ मेहनत बहुत है क्रिमिनल आई धोखा देती है, सिविल आई बनने में मेहनत लगती है। देवताओं के कितने अच्छे कैरेक्टर्स हैं, अब ऐसा देवता बनाने वाला जरूर चाहिए ना।

कॉन्फ्रेन्स में टॉपिक रखी है ”मानव जीवन में धर्म की आवश्यकता।” ड्रामा को न जानने कारण मूंझे हुए हैं। तुम्हारे सिवाए कोई समझा न सके। क्रिश्चियन अथवा बौद्धी आदि को यह थोड़ेही मालूम है कि क्राइस्ट, बुद्ध आदि फिर कब आयेंगे! तुम झट हिसाब-किताब बता सकते हो। तो समझाना चाहिए धर्म की तो आवश्यकता है ना। पहले-पहले कौन-सा धर्म था, फिर कौन-से धर्म आये हैं! अपने धर्म वाले भी पूरा समझते नहीं हैं। योग नहीं लगाते। योग बिगर ताकत नहीं आती, जौहर नहीं भरता। बाप को ही ऑलमाइटी अथॉरिटी कहा जाता है। तुम कितना ऑलमाइटी बनते हो, विश्व के मालिक बन जाते हो। तुम्हारे राज्य को कोई छीन न सके। उस समय और कोई खण्ड होते नहीं। अभी तो कितने खण्ड हैं। यह सृष्टि चक्र कैसे फिरता है। 5 हज़ार वर्ष का यह चक्र है, बाकी सृष्टि लम्बी कितनी है। वह थोड़ेही माप कर सकते। धरती का करके माप कर सकते हैं। सागर का तो कर न सकें। आकाश और सागर का अन्त कोई पा न सके। तो समझाना है – धर्म की आवश्यकता क्यों है! सारा चक्र बना ही है धर्मों पर। यह है ही वैराइटी धर्मों का झाड़, यह झाड़ है अन्धों के आगे आइना।

तुम अभी बाहर सर्विस पर निकले हो, आहिस्ते-आहिस्ते तुम्हारी वृद्धि होती जाती है। तूफान लगने से बहुत पत्ते गिरते भी हैं ना। और धर्मों में तूफान लगने की बात नहीं रहती। उनको तो ऊपर से आना ही है, यहाँ तुम्हारी स्थापना बड़ी वन्डरफुल है। पहले-पहले वाले भगत जो हैं उनको ही आकर भगवान को फल देना है, अपने घर ले जाने का। बुलाते भी हैं हम आत्माओं को अपने घर ले जाओ। यह किसको पता नहीं है कि बाप स्वर्ग का भी राज्य-भाग्य देते हैं। सन्यासी लोग तो सुख को मानते ही नहीं। वो चाहते हैं मोक्ष हो। मोक्ष को वर्सा नहीं कहा जाता। खुद शिवबाबा को भी पार्ट बजाना पड़ता है तो फिर किसको मोक्ष में कैसे रख सकते। तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ अपने धर्म को और सबके धर्म को जानते हो। तुमको तरस पड़ना चाहिए। चक्र का राज़ समझाना चाहिए। बोलो, तुम्हारे धर्म स्थापक फिर अपने समय पर आयेंगे। समझाने वाला भी होशियार चाहिए। तुम समझा सकते हो कि हर एक को सतोप्रधान से सतो-रजो-तमो में आना ही है। अभी है रावण राज्य। तुम्हारी है सच्ची गीता, जो बाप सुनाते हैं। भगवान निराकार को ही कहा जाता है। आत्मा निराकार गॉड फादर को बुलाती है। वहाँ तुम आत्मायें रहती हो। तुमको परमात्मा थोड़ेही कहेंगे। परमात्मा तो एक ही है ऊंच ते ऊंच भगवान, फिर सब हैं आत्मायें बच्चे। सर्व का सद्गति दाता एक है फिर हैं देवतायें। उनमें भी नम्बरवन है कृष्ण क्योंकि आत्मा और शरीर दोनों पवित्र हैं। तुम हो संगमयुगी। तुम्हारा जीवन अमूल्य है। देवताओं का नहीं, ब्राह्मणों का अमूल्य जीवन है। बाप तुमको बच्चा बनाए फिर तुम्हारे पर कितनी मेहनत करते हैं, देवतायें थोड़ेही इतनी मेहनत करेंगे। वह पढ़ाने लिए बच्चों को स्कूल भेज देंगे। यहाँ बाप बैठ तुमको पढ़ाते हैं। वह बाप टीचर गुरू तीनों हैं। तो कितना रिगॉर्ड होना चाहिए। सर्विसएबुल बच्चों को सर्विस का बहुत शौक होना चाहिए। बहुत थोड़े हैं जो अच्छे होशियार हैं तो सर्विस में लगे हुए हैं। हैण्ड्स तो चाहिए ना। लड़ाई के मैदान में जाने के लिए जिनको सिखलाते हैं उनको नौकरी आदि सब छुड़ा देते हैं। उन्हों के पास लिस्ट रहती है। फिर मिलेट्री को कोई रिफ्यूज़ कर न सकें कि हम मैदान पर नहीं जायेंगे। ड्रिल सिखलाते हैं कि जरूरत पर बुला लेंगे। रिफ्यूज़ करने वाले पर केस चलाते हैं। यहाँ तो वह बात नहीं है। यहाँ फिर जो अच्छी रीति सर्विस नहीं करते हैं तो पद भ्रष्ट हो जाता है। सर्विस नहीं करते गोया आपेही अपने को शूट करते हैं। पद भ्रष्ट हो जाता है। अपनी तकदीर को शूट कर देते हैं। अच्छी रीति पढ़ें, योग में रहें तो अच्छा पद मिले। अपने पर रहम करना होता है। अपने पर करें तो दूसरे पर भी करें। बाप हर प्रकार की समझानी देते रहते हैं। यह दुनिया का नाटक कैसे चलता है, तो राजधानी भी स्थापन होती है। इन बातों को दुनिया नहीं जानती। अब निमंत्रण तो मिलते हैं। 5-10 मिनट में क्या समझा सकेंगे। एक-दो घण्टा दें तो समझा भी सकेंगे। ड्रामा को तो बिल्कुल जानते नहीं। प्वाइंट्स अच्छी-अच्छी जहाँ-तहाँ लिख देनी चाहिए। परन्तु बच्चे भूल जाते हैं। बाप क्रियेटर भी है, तुम बच्चों को क्रियेट करते हैं। अपना बनाया है, डायरेक्टर बन डायरेक्शन भी देते हैं। श्रीमत देते और फिर एक्ट भी करते हैं। ज्ञान सुनाते हैं। यह भी उनकी ऊंच ते ऊंच एक्ट है ना। ड्रामा के क्रियेटर, डायरेक्टर और मुख्य एक्टर को न जाना तो क्या ठहरा? अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस अमूल्य जीवन में पढ़ाने वाले टीचर का बहुत बहुत रिगॉर्ड रखना है, पढ़ाई में अच्छा होशियार बन सर्विस में लगना है। अपने ऊपर आपेही रहम करना है।

2) अपने आपको सुधारने के लिए सिविलाइज्ड बनना है। अपने कैरेक्टर सुधारने हैं। मनुष्यों को देवता बनाने की सेवा करनी है।

वरदान:- संकल्प और बोल के विस्तार को सार में लाने वाले अन्तर्मुखी भव
व्यर्थ संकल्पों के विस्तार को समेट कर सार रूप में स्थित होना तथा मुख के आवाज के व्यर्थ को समेट कर समर्थ अर्थात् सार रूप में ले आना-यही है अन्तर्मुखता। ऐसे अन्तर्मुखी बच्चे ही साइलेन्स की शक्ति द्वारा भटकती हुई आत्माओं को सही ठिकाना दिखा सकते हैं। यह साइलेन्स की शक्ति अनेक रूहानी रंगत दिखाती है। साइलेन्स की शक्ति से हर आत्मा के मन का आवाज इतना समीप सुनाई देता है जैसे कोई सम्मुख बोल रहा है।
स्लोगन:- स्वभाव, संस्कार, सम्बन्ध, सम्पर्क में लाइट रहना अर्थात् फरिश्ता बनना।

TODAY MURLI 7 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 7 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 6 September 2019:- Click Here

07/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father comes every cycle to give you His introduction. You also have to give the Father’s accurate introduction to everyone.
Question: On hearing which question from the children is the Father amazed?
Answer: Children say: Baba, it is very difficult to give Your introduction. How can we give Your introduction? The Father is amazed on hearing this question. Since the Father has given you His introduction, you can also give it to others. There is nothing difficult about this; it is very easy. All souls are incorporeal and so their Father too must surely be incorporeal.

Om shanti. You sweetest, spiritual children understand that you are sitting with the unlimited Father. You also know that the unlimited Father comes in this chariot. When you say “BapDada”, you know that it is Shiv Baba sitting in this chariot and giving you His introduction. You children know that He is Baba. Baba gives you directions to remember the spiritual Father so that your sins can be burnt away. This is also called the fire of yoga. You have now recognised the Father. Therefore, how can you ask: How can I give the Father’s introduction to others? You have the introduction of the unlimited Father and so you can surely give it to others. The question of how to give His introduction cannot even arise. Just as you have come to know the Father, in the same way, you can tell them that there is only the one Father of all souls. There is no need to be confused about this. Some say: Baba, it is very difficult to give Your introduction. Oh! There is no question of any difficulty in giving the Father’s introduction. Even an animal understands with signals that it is the child of so-and-so. You also understand that He is the Father of us souls. I, the soul, am now inside this body. Baba has explained that His soul is the immortal image. It is not that He does not have a form. You children have recognised Him. This is a very simple matter. There is only the one incorporeal Father of all souls. All souls are brothers, children of the Father. We receive the inheritance from the Father. You also know that there could never be a child in this world who does not know his father or his creation. He would also know what property his father has. This is the meeting of souls with the Supreme Soul. This is the benevolent gathering. The Father is the benevolent One; He brings a great deal of benefit. By recognising the Father, you understand that you receive the unlimited inheritance from the unlimited Father. The followers of those sannyasis and gurus do not know about the inheritance of their guru. Hardly any of the followers know what property their guru has. It is now in your intellects: This is Shiv Baba and He too has property. You children understand that the property of the unlimited Father is that of the kingdom of the world of heaven. This aspect is not in the intellect of anyone except you children. What property does a physical father have? His children would know that. You now say that you belong to the parlokik Father whilst alive. You also know what you receive from Him. Previously, you used to belong to the shudra clan and you have now come into the Brahmin clan. You have the knowledge that Baba comes in this body of Brahma. This one is called the Father of Humanity (Prajapita Brahma). Shiva is the Father of all souls. This one (Father of Humanity) is called the great, great grandfather. You have now become his children. They say of Shiv Baba that He is present everywhere and that He is the Knower of all Secrets. You have now come to know how He gives the knowledge of the beginning, middle and end of creation. He is the Father of all souls. It is wrong to say that He is beyond name and form. His name and form are remembered. The Night of Shiva (Shiv Ratri) is also celebrated. It is human beings who have birthdays whereas the night refers to Shiv Baba. You children understand what is called “night”. There is total darkness in the night; it is the darkness of ignorance. People still sing: When the Sun of Knowledge rises, the darkness of ignorance is dispelled, but they do not understand the meaning of that. They don’t understand what the Sun is or when He rises. The Father explains that the Sun of Knowledge is also called the Ocean of Knowledge. The unlimited Father is the Ocean of Knowledge. Sannyasis saints and gurus etc. consider themselves to be authorities of the scriptures; all of that is devotion. Many are called scholars because they study the Vedas and scriptures. Therefore, the Father sits here and explains to you spiritual children. This is called the meeting of souls with the Supreme Soul. You understand that the Father has entered this chariot. This meeting is called a gathering (mela). When we return home, that too is a gathering. The Father Himself sits here and teaches you. He is the Father as well as the Teacher. Imbibe this one point very well. Do not forget it! Now, the Father is incorporeal; He does not have a body of His own. Therefore, He definitely has to adopt a body. He Himself says: I have to take the support of matter. Otherwise, how could I speak? It is not possible to speak without a body. Therefore, the Father enters this body. This one is given the name “Brahma”. When we change from shudras to Brahmins, our names should also change. You were given names but look, in spite of that, some are no longer here. This is why there is no rosary of Brahmins. The rosary of devotees and the rosary of Rudra are remembered but there is no rosary of Brahmins. The rosary of Vishnu has also been remembered. Who is the first bead of that rosary? You would say, “The dual-bead.” This is why a couple is also shown in the subtle region. Vishnu is shown with four arms – two arms of Lakshmi and two arms of Narayan. The Father explains: I am the Laundryman. I make you pure and clean with the power of yoga. Even then, you lose your decoration by indulging in vice. The Father comes to make everyone clean. He comes and teaches you souls. Therefore, the One who teaches definitely has to come here. People call out: Come and purify us! Clothes become dirty and they are cleaned by being washed. You also used to call out: O Purifier Baba, come and purify us! When souls become pure they can receive pure bodies. Therefore, the foremost aspect is to give the Father’s introduction. You cannot even ask the question: How can I give the Father’s introduction? You have come here because the Father has given you His introduction. You have come to the Father. Where is the Father? In this chariot; this is the immortal throne. You souls too are immortal images. All of these are your thrones on which you souls are present. That physical immortal throne (in Amritsar) is non-living. You understand: I am an immortal image, that is, an incorporeal one, who has no corporeal form. I, the soul, am immortal; I can never be destroyed. I shed one body and take another. My, the soul’s, part is eternally fixed. My part began in the same way 5000 years ago. We came from our home to play our parts from the period beginning with 1.1.1. This is the cycle of 5000 years. They speak of hundreds of thousands of years. This is why they are not able to think about it having fewer years. Therefore, you children should never ask how you can give the Father’s introduction to others. Baba is amazed when you ask such questions. Oh! You now belong to the Father, and so how is it that you are unable to give His introduction? We are all souls and He is our Baba, the One who grants salvation to all. You now know when He grants everyone salvation. He comes at the confluence of every cycle to grant salvation to all. Those people think that 40,000 years still remain and they straightaway say that He is beyond name and form. Now, can there be anything beyond name and form? Even pebbles and stones have names. Therefore, the Father says: Sweetest children, you have come to the unlimited Father. The Father also knows that there are many children. You children have to go beyond the limited and the unlimited. He sees all the children and knows that He has come to take them all back. There will be very few in the golden age. This knowledge is very clear; it is explained with pictures. Knowledge is absolutely easy. However, the pilgrimage of remembrance takes time. You must never forget such a Father. The Father says: Remember Me alone and you will become pure. I come to purify the impure. You immortal souls are sitting on your individual thrones. Baba has also taken this throne on loan. The Father enters this lucky chariot. Some say that the Supreme Soul does not have a name or form. That is not possible. They call out to Him and also sing His praise, and so He must surely be something. Because of being tamopradhan they do not understand anything. The Father explains: Sweetest children, there cannot be 8.4 million species. The maximum number is 84 births. Everyone has to take rebirth. It is not that anyone can go and merge into the brahm element or attain eternal liberation. This drama is predestined. There cannot be one soul more or one soul less. It is from this eternal and immortal drama that they create small dramas. Those are perishable. You children are now in the unlimited. You children have received the knowledge of how you have taken 84 births. The Father has now told you this, but previously, none of you knew it. Even the rishis and munis used to say: We do not know. The Father only comes at the confluence age to change this old world. He is once again carrying out the establishment of the new world through Brahma. Those people speak of hundreds of thousands of years but no one could remember anything that old. No great annihilation ever takes place. The Father teaches you Raj Yoga and you then claim your kingdom. There is no doubt about this. You children know that the first number, the most loved, is the Father and then the next most loved is Shri Krishna. You know that Shri Krishna is number one, the first prince of heaven. He then takes 84 births. I enter his body in his last birth. You now have to become pure from impure. It is the Father alone who is the Purifier. How can river water purify you? Those rivers also exist in the golden age. The water there remains very clean. No rubbish etc. remains in them. Here, there is so much rubbish in them. Baba has seen all of that. He had no knowledge at that time. Baba is now amazed at how he thought that water could purify you! The Father explains: Sweetest children, never become confused about how you can remember the Father. Ah! Can you not remember the Father? Those children are born through vice whereas you children are adopted. How can an adopted child forget the father from whom he receives an inheritance? You receive unlimited property from the unlimited Father. Therefore, you should not forget Him. Do children ever forget their physical father? However, here, there is opposition from Maya. Maya continues to wage war on you. This whole world is the field of action. A soul enters a body and performs actions here. The Father explains the secret of action, neutral action and sinful action. Here, in the kingdom of Ravan, actions become sinful. There, there is no kingdom of Ravan and their actions are therefore neutral. There are no sinful actions there. These aspects are very easy. Here, in the kingdom of Ravan, actions become sinful. This is why you have to experience punishment for sins. It is not that Ravan is eternal. No, for half the cycle it is the kingdom of Ravan and for the other half it is the kingdom of Rama. When you were deities your actions were neutral. All of this is knowledge. Now that you have become Baba’s children, you also have to study this knowledge. That’s all! You should not have any other thoughts of business etc. However, those who live in the household also have to do business etc. Therefore, the Father says: Remain like a lotus flower. You are to become like those deities. That symbol has been given to Vishnu because it would not suit you. It suits him. It is that dual-form of Vishnu that becomes Lakshmi and Narayan. That is the non-violent, most elevated deity religion. There is no sword of lust there nor is there any fighting or quarrelling etc. You are becoming doubly non-violent. You were the masters of the golden age. It is called the goldenaged pure world. Both souls and bodies are pure. Who makes your bodies pure? The Father. It is now the iron age. You say that the golden age has passed. Yesterday, when you ruled, it was the golden age. You continue to become knowledge-full. Not everyone can become the same. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Stay in this awareness: I, the soul, am sitting on this immortal throne. You have to go beyond the limited and the unlimited. Therefore, do not allow your intellect to become trapped in anything limited.
  2. Maintain the intoxication of receiving unlimited property from your unlimited Father. Understand the significance of action, neutral action and sinful action and thereby save yourself from performing sinful actions. Remove your intellect from your business etc. whilst studying.
Blessing: May you become an embodiment of success by balancing love with the authority of truth.
You saw in this world of falsehood the practical form of the authority of truth in Father Brahma. His words of authority never gave a feeling of ego. Words of authority have love merged in them. Words of authority are not just filled with love, but they make an impact. So, follow the Father. Love and authority, humility and greatness: let these pairs be visible equally. Now underline this balance in service and you will become an embodiment of success.
Slogan: To transform “mine” into “Yours” means to claim a right to your fortune.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 September 2019

To Read Murli 6 September 2019:- Click Here
07-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप कल्प-कल्प आकर तुम बच्चों को अपना परिचय देते हैं, तुम्हें भी सबको बाप का यथार्थ परिचय देना है”
प्रश्नः- बच्चों के किस प्रश्न को सुनकर बाप भी वन्डर खाते हैं?
उत्तर:- बच्चे कहते हैं – बाबा आपका परिचय देना बहुत मुश्किल है। हम आपका परिचय कैसे दें? यह प्रश्न सुनकर बाप को भी वन्डर लगता है। जब तुम्हें बाप ने अपना परिचय दिया है तो तुम भी दूसरों को दे सकते हो, इसमें मुश्किलात की बात ही नहीं। यह तो बहुत सहज है। हम सब आत्मायें निराकार हैं तो जरूर उनका बाप भी निराकार होगा।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे समझते हैं बेहद के बाप पास बैठे हैं। यह भी जानते हैं बेहद का बाप इस रथ पर ही आते हैं। जब बापदादा कहते हैं, यह तो जानते हैं कि शिवबाबा है और वह इस रथ पर बैठा है। अपना परिचय दे रहे हैं। बच्चे जानते हैं वह बाबा है, बाबा मत देते हैं कि रूहानी बाप को याद करो तो पाप भस्म हो जाएं, जिसको योग अग्नि कहते हैं। अभी तुम बाप को तो पहचानते हो। तो ऐसे कभी थोड़ेही कहेंगे कि बाप का परिचय दूसरे को कैसे दूँ। तुमको भी बेहद के बाप का परिचय है तो जरूर दे भी सकते हो। परिचय कैसे दें, यह तो प्रश्न ही नहीं उठ सकता है। जैसे तुमने बाप को जाना है, वैसे तुम कह सकते हो कि हम आत्माओं का बाप तो एक ही है, इसमें मूँझने की दरकार ही नहीं रहती। कोई-कोई कहते हैं बाबा आपका परिचय देना बड़ा मुश्किल होता है। अरे, बाप का परिचय देना – इसमें तो मुश्किलात की कोई बात ही नहीं। जानवर भी इशारे से समझ जाते हैं कि मैं फलाने का बच्चा हूँ। तुम भी जानते हो कि हम आत्माओं का वह बाप है। हम आत्मा अभी इस शरीर में प्रवेश हैं। जैसे बाबा ने समझाया है कि आत्मा अकालमूर्त्त है। ऐसे नहीं उसका कोई रूप नहीं है। बच्चों ने पहचाना है – बिल्कुल सिम्पुल बात है। आत्माओं का एक ही निराकार बाप है। हम सब आत्मायें भाई-भाई हैं। बाप की सन्तान हैं। बाप से हमको वर्सा मिलता है। यह भी जानते हैं ऐसा कोई बच्चा इस दुनिया में नहीं होगा जो बाप को और उनकी रचना को न जानता हो। बाप के पास क्या प्रापर्टी है, वह सब जानते हैं। यह है ही आत्माओं और परमात्मा का मेला। यह कल्याणकारी मेला है। बाप है ही कल्याणकारी। बहुत कल्याण करते हैं। बाप को पहचानने से समझते हो – बेहद के बाप से हमको बेहद का वर्सा मिलता है। वह जो सन्यासी गुरू होते हैं, उनके शिष्यों को गुरू के वर्से का मालूम नहीं रहता है। गुरू के पास क्या मिलकियत है, यह कोई शिष्य मुश्किल जानते होंगे। तुम्हारी बुद्धि में तो है – वह शिवबाबा है, मिलकियत भी बाबा के पास होती है। बच्चे जानते हैं बेहद के बाप के पास मिलकियत है – विश्व की बादशाही स्वर्ग। यह बातें सिवाए तुम बच्चों के और कोई की बुद्धि में नहीं हैं। लौकिक बाप के पास क्या मिलकियत है, वह उनके बच्चे ही जानते हैं। अभी तुम कहेंगे हम जीते जी पारलौकिक बाप के बने हैं। उनसे क्या मिलता है, वह भी जानते हैं। हम पहले शूद्र कुल में थे, अभी ब्राह्मण कुल में आ गये हैं। यह नॉलेज है कि बाबा इस ब्रह्मा तन में आते हैं, इनको प्रजापिता ब्रह्मा कहा जाता है। वह (शिव) तो है सब आत्माओं का फादर। इनको (प्रजापिता ब्रह्मा को) ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर कहते हैं। अब हम इनके बच्चे बने हैं। शिवबाबा के लिए तो कहते हैं वह हाज़िराहजूर है। जानी-जाननहार है। यह भी अब तुम समझते हो कि वह कैसे रचना के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज देते हैं। वह सब आत्माओं का बाप है, उनको नाम-रूप से न्यारा कहना तो झूठ है। उनका नाम-रूप भी याद है। रात्रि भी मनाते हैं, जयन्ती तो मनुष्यों की होती है। शिवबाबा की रात्रि कहेंगे। बच्चे समझते हैं रात्रि किसको कहा जाता है। रात में घोर अन्धियारा हो जाता है। अज्ञान अन्धियारा है ना। ज्ञान सूर्य प्रगटा अज्ञान अन्धेर विनाश – अभी भी गाते हैं परन्तु अर्थ कुछ नहीं समझते। सूर्य कौन है, कब प्रगटा, कुछ नहीं समझते। बाप समझाते हैं ज्ञान सूर्य को ज्ञान सागर भी कहा जाता है। बेहद का बाप ज्ञान का सागर है। सन्यासी, गुरू, गोसाई आदि अपने को शास्त्रों की अथॉरिटी समझते हैं, वह सब है भक्ति। बहुत वेद-शास्त्र पढ़कर विद्वान होते हैं। तो बाप रूहानी बच्चों को बैठ समझाते हैं, इनको कहा जाता है आत्मा और परमात्मा का मेला। तुम समझते हो बाप इस रथ में आये हुए हैं। इस मिलन को ही मेला कहते हैं। जब हम घर जाते हैं तो वह भी मेला है। यहाँ बाप खुद बैठ पढ़ाते हैं। वह फादर भी है, टीचर भी है। यह एक ही प्वाइंट अच्छी रीति धारण करो, भूलो मत। अब बाप तो है निराकार, उनको अपना शरीर नहीं है तो जरूर लेना पड़े। तो खुद कहते हैं मैं प्रकृति का आधार लेता हूँ। नहीं तो बोलूँ कैसे? शरीर बिगर तो बोलना होता नहीं। तो बाप इस तन में आते हैं, इनका नाम रखा है ब्रह्मा। हम भी शूद्र से ब्राह्मण बनें तो नाम बदलना ही चाहिए। नाम तो तुम्हारे रखे थे। परन्तु उसमें भी अभी देखो तो कई हैं ही नहीं इसलिए ब्राह्मणों की माला नहीं होती। भक्त माला और रूद्र माला गाई हुई है। ब्राह्मणों की माला नहीं होती। विष्णु की माला तो चली आई है। पहले नम्बर में माला का दाना कौन है? कहेंगे युगल इसलिए सूक्ष्मवतन में भी युगल दिखाया है। विष्णु भी 4 भुजा वाला दिखाया है। दो भुजा लक्ष्मी की, दो भुजा नारायण की।

बाप समझाते हैं मैं धोबी हूँ। मैं योगबल से तुम आत्माओं को शुद्ध बनाता हूँ फिर भी तुम विकार में जाकर अपना श्रृंगार ही गँवा देते हो। बाप आते हैं सबको शुद्ध बनाने। आत्माओं को आकर सिखलाते हैं तो सिखलाने वाला जरूर यहाँ चाहिए ना। पुकारते भी हैं आकर पावन बनाओ। कपड़ा भी मैला होता है तो उनको धोकर शुद्ध बनाया जाता है। तुम भी पुकारते हो – हे पतित पावन बाबा, आकर पावन बनाओ। आत्मा पावन बनें तो शरीर भी पावन मिले। तो पहली-पहली मूल बात होती है बाप का परिचय देना। बाप का परिचय कैसे दें, यह तो प्रश्न ही नहीं पूछ सकते। तुमको भी बाप ने परिचय दिया है तब तो तुम आये हो ना। बाप पास आते हो, बाप कहाँ है? इस रथ में। यह है अकाल तख्त। तुम आत्मा भी अकाल मूर्त्त हो। यह सब तुम्हारे तख्त हैं, जिस पर तुम आत्मायें विराजमान हो। वह तो अकाल तख्त जड़ हो गया ना। तुम जानते हो मैं अकाल मूर्त्त अर्थात् निराकार, जिसका साकार रूप नहीं है। मैं आत्मा अविनाशी हूँ, कब विनाश हो न सके। एक शरीर छोड़ दूसरा लेता हूँ। मुझ आत्मा का पार्ट अविनाशी नूँधा हुआ है। आज से 5 हज़ार वर्ष पहले भी हमारा ऐसे ही पार्ट शुरू हुआ था। वन-वन संवत से हम यहाँ पार्ट बजाने घर से आते हैं। यह है ही 5 हज़ार वर्ष का पा। वह तो लाखों वर्ष कह देते हैं इसलिए थोड़े वर्षों का विचार में नहीं आता। तो बच्चे ऐसा कभी कह नहीं सकते कि हम बाप का परिचय किसको कैसे दें। ऐसे-ऐसे प्रश्न पूछते हैं तो वन्डर लगता है। अरे, तुम बाप के बने हो, फिर बाप का परिचय क्यों नहीं दे सकते हो! हम सब आत्मायें हैं, वह हमारा बाबा है। सर्व की सद्गति करते हैं। सद्गति कब करेंगे यह भी तुमको अभी पता पड़ा है। कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुग पर आकर सर्व की सद्गति करेंगे। वह तो समझते हैं – अभी 40 हज़ार वर्ष पड़े हैं और पहले से ही कह देते नाम-रूप से न्यारा है। अब नाम-रूप से न्यारी कोई चीज़ थोड़ेही होती है। पत्थर भित्तर का भी नाम है ना। तो बाप कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, तुम आये हो बेहद के बाप के पास। बाप भी जानते हैं, कितने ढेर बच्चे हैं। बच्चों को अभी हद और बेहद से भी पार जाना है। सब बच्चों को देखते हैं, जानते हैं इन सबको मैं लेने लिए आया हूँ। सतयुग में तो बहुत थोड़े होंगे। कितना क्लीयर है इसलिए चित्रों पर समझाया जाता है। नॉलेज तो बिल्कुल इज़ी है। बाकी याद की यात्रा में टाइम लगता है। ऐसे बाप को तो कभी भूलना नहीं चाहिए। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो पावन बन जायेंगे। मैं आता ही हूँ पतित से पावन बनाने। तुम अकालमूर्त्त आत्मायें सब अपने-अपने तख्त पर विराजमान हो। बाबा ने भी इस तख्त का लोन लिया है। इस भाग्यशाली रथ में बाप प्रवेश होते हैं। कोई कहते हैं परमात्मा का नाम-रूप नहीं है। यह तो हो ही नहीं सकता। उनको पुकारते हैं, महिमा गाते हैं, तो ज़रूर कोई चीज़ है ना। तमोप्रधान होने कारण कुछ भी समझते नहीं। बाप समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, इतनी 84 लाख योनियां तो कोई होती नहीं। हैं ही 84 जन्म। पुनर्जन्म भी सबका होगा। ऐसे थोड़ेही ब्रह्म में जाकर लीन होंगे वा मोक्ष को पायेंगे। यह तो बना-बनाया ड्रामा है। एक भी कम-जास्ती नहीं हो सकता। इस अनादि अविनाशी ड्रामा से ही फिर छोटे-छोटे ड्रामा वा नाटक बनाते हैं। वह हैं विनाशी। अभी तुम बच्चे बेहद में खड़े हो। तुम बच्चों को यह नॉलेज मिली हुई है – हमने कैसे 84 जन्म लिए हैं। अभी बाप ने बताया है, आगे किसको पता नहीं था। ऋषि-मुनि भी कहते थे – हम नहीं जानते हैं। बाप आते ही हैं संगमयुग पर, इस पुरानी दुनिया को चेंज करने। ब्रह्मा द्वारा नई दुनिया की स्थापना फिर से करते हैं। वह तो लाखों वर्ष कह देते हैं। कोई बात याद भी न आ सके। महाप्रलय भी कोई होती नहीं। बाप राजयोग सिखलाते हैं फिर राजाई तुम पाते हो। इसमें तो संशय की कोई बात ही नहीं। तुम बच्चे जानते हो पहले नम्बर में सबसे प्यारा है बाप फिर नेक्स्ट प्यारा है श्रीकृष्ण। तुम जानते हो श्रीकृष्ण है स्वर्ग का पहला प्रिन्स, नम्बरवन। वही फिर 84 जन्म लेते हैं। उसके ही अन्तिम जन्म में मैं प्रवेश करता हूँ। अब तुमको पतित से पावन बनना है। पतित-पावन बाप ही है, पानी की नदियां थोड़ेही पावन कर सकती हैं। यह नदियां तो सतयुग में भी होती हैं। वहाँ तो पानी बहुत शुद्ध रहता है। किचड़ा आदि कुछ नहीं रहता। यहाँ तो कितना किचड़ा पड़ता रहता है। बाबा का देखा हुआ है, उस समय तो ज्ञान नहीं था। अभी वन्डर लगता है पानी कैसे पावन बना सकता है।

तो बाप समझाते हैं – मीठे बच्चे, कभी भी मूँझो नहीं कि बाप को याद कैसे करें। अरे, तुम बाप को याद नहीं कर सकते हो! वह हैं कुख की सन्तान, तुम हो एडाप्टेड बच्चे। एडाप्टेड बच्चों को जिस बाप से मिलकियत मिलती है, उनको भूल सकते हैं क्या? बेहद के बाप से बेहद की मिलकियत मिलती है तो उनको भूलना थोड़ेही चाहिए। लौकिक बच्चे बाप को भूलते हैं क्या। परन्तु यहाँ माया का आपोजीशन होता है। माया की युद्ध चलती है, सारी दुनिया कर्मक्षेत्र है। आत्मा इस शरीर में प्रवेशकर यहाँ कर्म करती है। बाप कर्म-अकर्म-विकर्म का राज़ समझाते हैं। यहाँ रावण राज्य में कर्म विकर्म बन जाते हैं। वहाँ रावण राज्य ही नहीं तो कर्म अकर्म हो जाते हैं, विकर्म कोई होता ही नहीं। यह तो बहुत सहज बात है। यहाँ रावण राज्य में कर्म विकर्म होते हैं इसलिए विकर्मो का दण्ड भोगना पड़ता है। ऐसे थोड़ेही कहेंगे रावण अनादि है। नहीं, आधाकल्प है रावण राज्य, आधाकल्प है राम राज्य। तुम जब देवता थे तो तुम्हारे कर्म अकर्म होते थे। अब यह है नॉलेज। बच्चे बने हो तो फिर पढ़ाई भी पढ़नी है। बस, फिर और कोई धन्धे आदि का ख्याल भी नहीं आना चाहिए। परन्तु गृहस्थ व्यवहार में रहते धन्धा आदि भी करने वाले हैं तो बाप कहते हैं कमल फूल समान रहो। ऐसे देवता तुम बनने वाले हो। वह निशानी विष्णु को दे दी है क्योंकि तुमको शोभेगा नहीं। उनको शोभता है। वही विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण बनने वाले हैं। वह है ही अहिंसा परमो देवी-देवता धर्म। न कोई विकार की काम कटारी होती, न कोई लड़ाई-झगड़ा आदि होता है। तुम डबल अहिंसक बनते हो। सतयुग के मालिक थे। नाम ही है गोल्डन एज। कंचन दुनिया। आत्मा और काया दोनों कंचन बन जाती हैं। कंचन काया कौन बनाते हैं? बाप। अभी तो आइरन एज है ना। अब तुम कहते हो सतयुग पास हो गया है। कल सतयुग था ना। तुम राज्य करते थे। तुम नॉलेजफुल बनते जाते हो। सब तो एक जैसे नहीं बनेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मैं आत्मा अकाल तख्त नशीन हूँ, इस स्मृति में रहना है, हद और बेहद से पार जाना है इसलिए हदों में बुद्धि नहीं फँसानी है।

2) बेहद बाप से बेहद की मिलकियत मिलती है, इस नशे में रहना है। कर्म-अकर्म-विकर्म की गति को जान विकर्मों से बचना है। पढ़ाई के समय धन्धे आदि से बुद्धि निकाल लेनी है।

वरदान:- सेवा में स्नेह और सत्यता की अथॉरिटी के बैलेन्स द्वारा सफलतामूर्त भव
जैसे इस झूठ खण्ड में ब्रह्मा बाप को सत्यता की अथॉरिटी का प्रत्यक्ष स्वरूप देखा। उनके अथॉरिटी के बोल कभी अंहकार की भासना नहीं देंगे। अथॉरिटी के बोल में स्नेह समाया हुआ है। अथॉरिटी के बोल सिर्फ प्यारे नहीं प्रभावशाली होते हैं। तो फालो फादर करो – स्नेह और अथॉरिटी, निमार्णता और महानता दोनों साथ-साथ दिखाई दें। वर्तमान समय सेवा में इस बैलेन्स को अन्डरलाइन करो तो सफलता मूर्त बन जायेंगे।
स्लोगन:- मेरे को तेरे में परिवर्तन करना अर्थात् भाग्य का अधिकार लेना।

TODAY MURLI 7 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 September 2018 :- Click Here

07/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your lights have now ignited. For the lights to ignite means that there are now the omens of Jupiter. When there are the omens of Jupiter, you become the masters of the world.
Question: What is the speciality of every home in the golden age? What has every home become in the iron age?
Answer: In the golden age, there is happiness in every home; the light of everyone is ignited. In the iron age, there is sorrow and worry in every home; there is darkness in every home. The lights of souls have extinguished. The Father has come to ignite everyone’s light with His own light through which there will be Diwali in every home.
Song: Mother, o Mother, you are the Bestower of Fortune for all. 

Om shanti. You children heard praise of the mother. In fact, this is praise of only one. Nevertheless, it is someone who makes the mother into the World Mother (Jagadamba) and someone else who gives birth to her. Who gave birth to such a mother? It would be said: The Purifier, the Supreme Soul, Shiva, gave her birth. So then, the praise is of the one Ocean of Knowledge, the Purifier, the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiv Baba. He sits here and explains to you children the secrets of Himself, the beginning, middle and end of His own creation and the secrets of making impure ones pure. You children understand that, at this time, it is the impure kingdom which is called the kingdom of Ravan. Dashera is now coming. It has been explained that all of those festivals are of blind faith. There are no such things as Ravan and Lanka. Ceylon is called Lanka. They show that monkeys built a bridge across the sea. In fact, all of those are tall stories. It isn’t that there was a Ravan with ten heads who ruled Lanka. If that were the case, they should burn his effigy in Lanka. The system of burning Ravan is only in Bharat. They don’t burn his effigy anywhere else. In the newspapers too, they only write about it here. The Maharaja of Mysore celebrates this festival the most. Perhaps he has a lot of love for all those tall stories. It is the duty of you children to explain them. An effigy of an enemy is made and burnt. Previously, they used to make an effigy of Hitler and burn that. Many people have enemies. Whose enemy was Ravan? He was the enemy of the people of Bharat. However, an enemy is burnt once. There isn’t anyone who makes an effigy of his enemy every year and burns it. They make an effigy of their enemy, but they don’t burn that every year. Who is that Ravan whose effigy with ten heads has been created and burnt in Bharat for a long time? When did he become your enemy? He doesn’t even die. Will he eventually die or will he always live? You children know that Bharat was pure and that it was Ravan that made Bharat impure. It is now the kingdom of Ravan. If there had been a king of Lanka, there must also have been a queen. You do not believe those things. People don’t understand anything about whether Ravan is still living or not. He is still living and yet they create an effigy of him and burn that. Once he was burnt, what happened then? They continue to burn it every year and so you children should explain to them. Those who become the seniors of the Committee, such as the Maharaja of Mysore, celebrate this festival a lot. They even invite foreigners to come and watch. They believe that such things did perhaps happen. However, nothing like that ever happened. They create plays. They even create a play about Ravan. Therefore, you have to explain about this Ravan. This is something very important. You are now sitting in the kingdom of Ravan. The impure world is called the kingdom of Ravan. The secrets of the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan have been explained to you. The five vices are called Ravan; it isn’t anyone else. You have understood that Ravan’s kingdom is now in Bharat. It is only in Bharat that they celebrate Dashera and Deepmala etc. So you have to explain that if Ravan is living, it is Ravan’s kingdom. Ravan is the one who makes people impure. You know that the five vices which are now omnipresent are called Ravan. The pictures of Ravan were also made previously at Dashera, but they also have to write a date etc. on them. At this time, the impure is destroyed and the pure is established. You are becoming pure from impure. When you have become pure, the community of Ravan will be set on fire. When Ravan is destroyed, there won’t be any need to create effigies in the golden age. Everyone will become pure. When souls had the power of their satopradhan stage, they were ignited lights. When they became impure, those lights were extinguished. Souls have become impure and don’t have the strength to fly. Souls have become iron aged due to the five vices. This definitely has to be explained. It is the one Father who awakens souls. Everyone says that the Supreme Father, the Supreme Soul, the form of Light, God, will come. You souls are forms of light and the Supreme Father, the Supreme Soul, is also a form of light. The lights of you souls have been extinguished. Only a little light now remains. When a person dies, people keep an earthenware lamp burning for that soul day and night. They look after that lamp very carefully. When the oil is used up, they pour in more oil. It is the same with souls too: the Father comes and ignites everyone’s light with knowledge. For how long would an ignited lamp last? They burn it at night and then continue to pour oil into it. Your lights are now igniting. By gradually being ignited, they will be fully ignited. It takes 5000 years for the lights to extinguish and then the Father comes and pours in oil. Your lights are now being ignited and then your degrees will later gradually continue to decrease. The lights will become dim. You know that your lights are now being ignited and that then, in the golden age, there will be light in every home. This only refers to Bharat. Now, there is darkness in every home; there is no happiness. You know that, in the golden and silver ages, you were very happy and that you used to celebrate in happiness. Everyone’s light remains ignited and it then decreases little by little. At this time it is completely dim; there is alloy mixed into it. The Father comes and pours in the oil of knowledge through which you become ignited lights. Your eyes of knowledge are being opened. You know that your bodies have now completely finished; there are the omens of Rahu. How long does it take for you to become ugly? It decreases little by little from the beginning and then, as soon as Maya enters, you become very ugly. There are now the omens of Rahu over you. The most severe omens are those of Rahu. There are now the omens of Jupiter because you are now making effort with the Lord of the Tree, the Guru, in order to become the masters of the world. He is the imperishable Guru. Whose? The imperishable souls. Those human beings don’t become gurus of souls; they become gurus of human beings. The Father has now come and become the Guru of you souls. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Lord of the Tree. You understand that you now have the omens of Jupiter over you. You will become the masters of heaven. There is imperishable happiness, but you have to make effort for that at this time so that you become the emperors and empresses of the land of happiness. Everyone’s efforts are their own. This is the pathshala of Rudra Shiva. He is the Ocean of Knowledge. You are studying in His school. God speaks: I teach you Raja Yoga. I am the imperishable Father of imperishable souls. One is a physical father and the other is the spiritual Father. You have to show the contrast of the two. When do you meet the spiritual Father whom all the spirits remember on the path of devotion? A physical father is perishable. Souls are not perishable. You know that you have been changing your physical fathers for birth after birth. A child cannot be born without a father. You children have now received broad and unlimited intellects. You can understand from when it is that you become those with two fathers. In the golden age, there is the one physical father and you only remember him. There is no need for souls to remember that spiritual Father. In the golden age, souls only have the one physical father. There, you receive beautiful bodies; you experience your reward. This is why you don’t remember the Father there. So you have to explain this. On the path of devotion, one is your perishable physical father. He is a different one in every birth. You souls are imperishable. You remember the imperishable Father. You even say: The Supreme Father is the Father who lives in the supreme abode. A physical father would never be called the Supreme Father. It is most essential to explain the secrets of the two fathers. You also have to explain the secrets of Ravan. It is now the kingdom of Ravan. This is the impure kingdom. This is why they call out to the Purifier Father. He is the imperishable Father. You definitely have to prove the two fathers. Soulstoo have the Father, so this is why you remember the, Supreme Father, the Supreme Soul from beyond. In every birth, you receive different physical parents but, nevertheless, you definitely remember that spiritual Father. He never changes. The Father also says: You truly used to remember Me and say: O Supreme Father, Supreme Soul! For how long do you have to remember the Father and when do you meet the Father? You have now understood this. When it is the end of devotion, the Father has to come and give the devotees the fruit of their devotion. The Father has explained: I give all the devotees liberation and liberation-in-life. You know that there is just the one religion in the golden age. That is called oneness. They say that all should unite and become one. However, all religions cannot become one. When there is one kingdom, there is purity, happiness and peace. There definitely was the kingdom of Rama in Bharat. It is now the kingdom of Ravan. This is why they continue to burn Ravan. When you explain the secrets of the two fathers, they will quickly understand. There is definitely the imperishable Father. It is only the Father who creates the new world. In the new world, there truly were just the deities, and then that world changed from new to old. You know how many births you take in the new world and how many births you take in the old world. It isn’t half of 84 births, that you take 42 births in the old world and 42 births in the new world; no. The lifespan of the people of Bharat is at first 150 years, then 125 years and it is now hardly 40 to 50 years. It cannot be half and half; there has to be the accurate calculation of 84 births. The Father says: Your cycle of 84 births has now ended. You did not know this. I explain it to you. No one except the Supreme Father, the Supreme Soul can explain the secrets of 84 births to you. You listen to the Father and become happy and you then make effort for the new world. You children have to prove and tell others that you are now claiming your unlimited inheritance from the unlimited Father from beyond. That Father only comes when He has to establish heaven. He is called Heavenly God, the Father. When a new home has been constructed, the old one is demolished. It is written that there is establishment and then destruction. When establishment has taken place, destruction will take place. It is the Supreme Father, the Supreme Soul, who carries out establishment through Brahma. Baba has also explained that the resident of the subtle region cannot be called Prajapita (the Father of Humanity). There are no people there, and so surely Prajapita Brahma has to exist here. He will then become angelic and complete. That one (in the subtle region) is Angelic. The physical is also definitely needed so that he can become angelic. Both are now visible. Prajapita Brahma is here and also in the subtle region. Prajapita is needed here. The children of Prajapita are also definitely here. You have to explain the significance of the two fathers at the exhibition. It is the system that it has to be explained to each one individually. How can you explain to everyone there? Solitude is needed to explain to them. There is a lot of chaos there. Here, it takes you an hour to an hour and a half to explain. It would be very difficult to explain to such a crowd. There are those of all types of religion. Some would say one thing and others would say something else. They would not just sit quietly. You explain that that one is a worldly, physical father and that the other is the, spiritual Father from beyond. He is the Supreme Father, the Supreme Soul. He is now establishing heaven through Brahma. Destruction of hell is also just ahead. There is to be the great war. Truly, this is Raja Yoga and also the Gita Pathshala where you attain the kingdom. God speaks: Everyone has two fathers. Krishna would not be called the Father of all souls. The Father of souls, the Supreme Father, the Supreme Soul, says: Constantly remember Me alone. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remain a constantly ignited light by pouring the oil of knowledge into yourself. Stay in remembrance of the Father and remove the omens of Rahu.
  2. Give everyone the recognition of the two fathers, the spiritual and the physical, and enable them to claim a right to the unlimited inheritance.
Blessing: May you be constantly powerful and experience the form of being essence-full, yogyukt and yuktiyukt by remaining stable in the point form.
Instead of going on the crooked path of a question mark, apply a full stop to every situation. Stabilise yourself in the point form and you will experience the essence-full, yogyukt and yuktiyukt form. Your awareness, words and deeds will all become powerful. If you go into expansion without first becoming a point, you would then waste your time and powers in wasteful words and deeds of “Why?” and “What?” because you would have to come out of that jungle. Therefore, remain stable in the point form and make sure all your physical senses work according to your orders.
Slogan: Keep the diamond key of the word “Baba” with you and you will continue to experience all treasures.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 7 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 September 2018

To Read Murli 6 September 2018 :- Click Here
07-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – अभी तुम्हारी ज्योति जगी है, ज्योति जगना अर्थात् बृहस्पति की दशा बैठना, बृहस्पति की दशा बैठने से तुम विश्व के मालिक बन जाते हो”
प्रश्नः- सतयुग में हर घर की विशेषता क्या होगी, कलियुग में हर घर क्या बन गये हैं?
उत्तर:- सतयुग में हर घर में खुशियां होंगी। सबकी ज्योति जगी हुई होगी। कलियुग में तो घर-घर में ग़मी, चिंता है। हर घर में अंधियारा है। आत्मा की ज्योति उझाई हुई है। बाप आये हैं अपनी ज्योति से सबकी ज्योति जगाने, जिससे फिर घर-घर में दीवाली होगी।
गीत:- माता ओ माता……. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने माँ की महिमा सुनी। यूं वास्तव में उपमा तो एक की ही होती है। माँ को भी जगत अम्बा बनाने वाला, जन्म देने वाला फिर भी कोई और है। ऐसी माँ को भी जन्म किसने दिया? कहेंगे पतित-पावन परमपिता परमात्मा शिव ने दिया। फिर भी महिमा हो जाती है एक ही ज्ञान सागर, पतित-पावन परमपिता परमात्मा शिवबाबा की। वह बैठ बच्चों को अपना और अपनी रचना के आदि-मध्य-अन्त का और पतितों को पावन बनाने का राज़ समझाते हैं। यह तो बच्चे समझ गये हैं इस समय पतित राज्य है, जिसको रावण राज्य कहा जाता है। अभी दशहरा आता है ना। यह तो समझाया गया है – यह सब अन्धश्रधा के उत्सव हैं। ऐसे तो कोई है नहीं कि एक रावण था, लंका थी। लंका सीलॉन को कहा जाता है। दिखाते हैं वहाँ सागर पर बन्दरों ने पुल बनाई….. । वास्तव में यह सब हैं दन्त कथायें। ऐसे तो है नहीं कि 10 शीश वाला कोई रावण था, लंका में राज्य करता था। फिर तो उनकी एफीजी लंका में ही जलानी चाहिए। रावण को जलाने का भारत में ही रिवाज है और कोई जगह नहीं जलाते। अ़खबार में भी यहाँ के लिए ही पड़ता है। सबसे जास्ती उत्सव मैसूर का महाराजा मनाते हैं। उनका शायद इस दन्त कथा से प्रेम दिखाई पड़ता है। अब इस पर समझाना तुम बच्चों का काम है। एफीजी तो दुश्मन का बनाकर जलाया जाता है। जैसे आगे हिटलर का एफीजी बनाकर जलाते थे। दुश्मन तो बहुतों के होते हैं। अब रावण किसका दुश्मन था? भारतवासियों का दुश्मन था। परन्तु दुश्मन को भी एक बार जलाया जाता है। ऐसे तो कोई भी नहीं करते जो हर वर्ष दुश्मन का एफीजी (बुत) बनाकर जलाते। दुश्मन का एफीजी तो बनाते हैं परन्तु वर्ष-वर्ष तो नहीं जलाते। यह रावण फिर कौन है जिसका भारत में बहुत समय से 10 शीश वाला एफीजी बनाकर जलाते रहते हैं? यह दुश्मन कब से हुआ है जो मरता ही नहीं? आखरीन ख़त्म होगा या सदैव रहेगा ही? तुम बच्चे जानते हो भारत ही पवित्र था फिर भारत को ही रावण ने अपवित्र बनाया है। अभी रावण राज्य है। अगर लंका का राजा था तो रानी भी होगी। तुम तो यह बातें मानेंगे नहीं। रावण अभी तक जीता है वा क्या, कुछ भी समझते नहीं। जीता है फिर उनकी एफीजी बनाकर जलाते रहते। एक बार जलाया फिर क्या हुआ? हर वर्ष जलाते रहते हैं तो तुम बच्चों को समझाना चाहिए। कमेटी के बड़े जो बनते हैं जैसे मैसूर का महाराजा है, वह बहुत मनाते हैं। फारेनर्स को भी देखने के लिए बुलाते हैं। समझेंगे शायद ऐसा हुआ होगा। परन्तु ऐसा तो कभी हुआ नहीं है। नाटक बना देते हैं। रावण का भी नाटक बनाते हैं। तो इस रावण की बात पर समझाना है। बड़ी जबरदस्त बात है। अभी तुम रावण राज्य में बैठे हो। पतित दुनिया को ही रावण राज्य कहा जाता है। अभी राम राज्य और रावण राज्य का राज़ तुमको समझाया गया है। रावण 5 विकारों को कहा जाता है और कोई नहीं है।

तुम समझ गये हो रावण का राज्य अभी भारत में है। भारत में ही दशहरा, दीपमाला आदि मनाते हैं। तो समझाना पड़े। अगर रावण जीता है तो रावण राज्य ठहरा ना। रावण है पतित बनाने वाला। तुम जानते हो 5 विकार जो कि इस समय सर्वव्यापी हैं, उनको ही रावण कहा जाता है। रावण के चित्र तो आगे दशहरे में निकले थे, इसमें तिथि-तारीख भी डालनी पड़े। इस समय पतित का विनाश और पावन की स्थापना होती है। तुम पतित से पावन बन रहे हो, पावन बन जायेंगे फिर रावण सम्प्रदाय को आग लगेगी। रावण ख़त्म हो जायेगा फिर सतयुग में कोई एफीज़ी नहीं बनानी पड़ेगी। सब पावन बन जायेंगे। आत्मा में सतोप्रधानता की जब ताकत थी तो जागती ज्योत थी। पतित बनने से वह ज्योत उझा गई है। आत्मा ही पतित बनी है, उड़ने की ताकत नहीं है। 5 विकारों से आत्मा आइरन एजड बन गई है। यह जरूर समझाना है। आत्मा को जागृत करने वाला एक बाप है। यह तो सब कहते हैं ज्योति स्वरूप परमपिता परमात्मा आयेगा। अब ज्योति स्वरूप तो तुम आत्मा भी हो, परमपिता परमात्मा भी ज्योति स्वरूप है। तुम्हारी आत्मा की ज्योति बुझ गई है। बाकी जाकर जरा सी रही है। मनुष्य मरते हैं तो रात-दिन उनका दीवा जलाते हैं। दीवे की बहुत सम्भाल करते हैं। घृत ख़त्म हो जाता है फिर और डालते हैं। आत्माओं का भी ऐसे है। बाप आकर सबकी ज्ञान से ज्योति जगाते हैं। ज्योति जगी हुई कितना समय चलती है? वह तो रात को जलाते हैं फिर घृत डालते जाते हैं। तुम्हारी अब ज्योति जग रही है। जगते-जगते फिर जग ही जायेगी। ज्योति बुझने में 5 हजार वर्ष लगता है फिर बाप आकर घृत डालते हैं। तुम्हारी अब ज्योति जगी है फिर धीरे-धीरे कला कम होती जायेगी। ज्योति उझाई जायेगी। तुम जानते हो अभी हमारी ज्योति जगती है फिर सतयुग में घर-घर में सोझरा होगा। भारत की ही बात है। अभी तो घर-घर में अन्धियारा है। खुशी है नहीं। तुम जानते हो सतयुग-त्रेता में हम बहुत खुश थे और खुशी मनाते थे। सभी की ज्योति जगी हुई रहती है फिर थोड़ी-थोड़ी कमती होती जाती है। इस समय तो बिल्कुल उझाई हुई है। खाद पड़ी हुई है। बाप आकर फिर ज्ञान का घृत डालते हैं जिससे तुम फिर जागती ज्योत बन जाते हो। तुम्हारे ज्ञान चक्षु खुल जाते हैं।

तुम जानते हो अभी हमारी सारी काया ख़लास हो गई है, राहू का ग्रहण लग गया है। तुमको काला होने में कितना समय लगता है? शुरू से लेकर थोड़ा-थोड़ा होते फिर माया का प्रवेश होने से ही बहुत काले बन जाते हो। अभी तुम्हारे ऊपर राहू की दशा है। सबसे कड़ी है राहू की दशा। अभी फिर बृहस्पति की दशा बैठती है क्योंकि अभी विश्व का मालिक बनने के लिए तुम वृक्षपति गुरू द्वारा पुरुषार्थ कर रहे हो। वह है अविनाशी गुरू। किसका? अविनाशी आत्माओं का। वह मनुष्य लोग आत्माओं का गुरू नहीं बनते हैं। वह मनुष्य का गुरू बनते हैं। अभी बाप तुम्हारी आत्माओं का गुरू आकर बने हैं। वृक्षपति परमपिता परमात्मा है। तुम समझते हो अब हमारे ऊपर बृहस्पति की दशा है। स्वर्ग के मालिक तो बनेंगे। अविनाशी सुख रहता है, परन्तु उसके लिए पुरुषार्थ अब करना है कि हम सुखधाम के महाराजा-महारानी बनें। पुरुषार्थ तो हर एक का अपना चलता है। यह है रुद्र शिव की पाठशाला। वह है ज्ञान सागर। तुम उनकी पाठशाला में पढ़ रहे हो। भगवानुवाच – मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। अविनाशी आत्माओं का अविनाशी बाप मैं हूँ। एक है जिस्मानी बाप, एक है रूहानी बाप। दोनों कान्ट्रास्ट भी बताना है। रूहानी बाप कब मिलते हैं, जिसको भक्ति मार्ग में सभी रूहें याद करती हैं। जिस्मानी बाप तो है विनाशी। आत्मायें तो विनाशी नहीं होती हैं। तुम जानते हो हमारा जो लौकिक बाप है वह तो जन्म बाई जन्म हम बदलते आये। बाप बिगर तो बच्चे का जन्म हो नहीं सकता। तुम बच्चों को अब विशालबुद्धि मिली है। तुम समझ सकते हो कि कब से हम दो बाप वाले बनते हैं। सतयुग में तो एक ही लौकिक बाप होता है उनको ही याद करते हैं। आत्माओं को उस रूहानी बाप को याद करने की दरकार नहीं रहती। आत्माओं को सतयुग में तो एक ही लौकिक बाप होता है। वहाँ शरीर भी गोरा मिलता है, प्रालब्ध भोगते हैं ना इसलिए वहाँ बाप को याद नहीं करते। तो तुमको यह समझाना है। भक्ति मार्ग में एक है विनाशी लौकिक बाप, वह तो हर जन्म में दूसरा मिलता है। तुम आत्मा तो अविनाशी हो, अविनाशी बाप को याद करती हो। कहते भी हैं परमपिता परमधाम में रहने वाले पिता। लौकिक पिता को कभी परमपिता नहीं कहेंगे। यह दो बाप का राज़ समझाना बहुत जरूरी है। रावण का राज़ भी समझाना है। रावण राज्य अर्थात् पतित राज्य अभी है इसलिए पतित-पावन बाप को बुला रहे हैं। वह अविनाशी बाप है। दो बाप जरूर सिद्ध करने हैं। आत्माओं का भी बाप है इसलिए पारलौकिक परमपिता परमात्मा को याद करते हैं। हर जन्म में लौकिक बाप और और मिलता है फिर भी उस रूहानी बाप को जरूर याद करते हैं। वह कभी बदलता नहीं। बाप भी कहते हैं बरोबर तुम मुझे याद करते थे – हे परमपिता परमात्मा। कब तक तुमको याद करना है, फिर बाप कब मिलता है? यह तुम अभी जान गये हो। जब भक्ति का अन्त होता है तब भक्तों को फल देने बाप आते हैं। बाप ने समझाया है – सभी भक्तों को मुक्ति-जीवनमुक्ति देता हूँ। तुम जानते हो सतयुग में एक ही धर्म होता है, उसको वननेस कहेंगे। कहते हैं सभी मिलकर एक हो जाएं। परन्तु सभी धर्म तो एक हो नहीं सकते। जब एक राज्य हो जाता है तो पवित्रता, सुख, शान्ति रहती है। भारत में रामराज्य था जरूर। अभी यह रावण राज्य है, इसलिए रावण को जलाते रहते हैं। तो दो बाप का राज़ समझाने से झट समझ जायेंगे। अविनाशी बाप तो जरूर है, नई दुनिया रचने वाला बाप ही है। नई दुनिया में बरोबर देवी-देवतायें ही थे फिर वही दुनिया नई से पुरानी होती है। नई दुनिया में कितने जन्म लेते, पुरानी दुनिया में कितने जन्म लेते यह तुम जानते हो। ऐसे भी नहीं कि 84 जन्मों के आधा होने चाहिए, 42 जन्म पुरानी दुनिया में, 42 जन्म नई दुनिया में। नहीं। भारतवासियों की आयु पहले 100 वर्ष, 125 वर्ष थी, अभी तो 40-50 वर्ष भी मुश्किल चलती है। तो आधा-आधा हो न सके। 84 जन्मों का हिसाब तो चाहिए ना। बाप कहते हैं तुम्हारा 84 जन्मों का चक्र अब पूरा हुआ। तुम नहीं जानते हो, हम समझाते हैं, 84 जन्मों का राज़ सिवाए परमपिता परमात्मा के और कोई समझा न सके। तुम बाप से सुनकर खुश होते हो और फिर नई दुनिया के लिए पुरुषार्थ करते हो।

अब यह बच्चों को सिद्ध कर बताना है कि हम अभी बेहद के पारलौकिक बाप से बेहद का वर्सा ले रहे हैं। वह बाप आते ही तब हैं जब स्वर्ग की स्थापना करते हैं। उनको कहा ही जाता है हेविनली गॉड फादर। जब नये घर की स्थापना होती है तब पुराने घर को तोड़ा जाता है। लिखा हुआ भी है स्थापना फिर विनाश। स्थापना जब पूरी हो जायेगी तब विनाश होगा। स्थापना करने वाला है परमपिता परमात्मा, इस ब्रह्मा द्वारा। यह भी बाबा ने समझाया है सूक्ष्मवतनवासी को तो प्रजापिता नहीं कहेंगे। वहाँ प्रजा होती नहीं, तो जरूर प्रजापिता ब्रह्मा यहाँ होगा। वही फिर अव्यक्त सम्पूर्ण बनेगा। वह तो है अव्यक्त, जरूर व्यक्त भी चाहिए जो फिर अव्यक्त होना है। दोनों अभी दिखाई पड़ते हैं। प्रजापिता ब्रह्मा यहाँ भी है, सूक्ष्मवतन में भी है। प्रजापिता तो यहाँ चाहिए, जरूर प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे भी यहाँ ही हैं। प्रदर्शनी में दो बाप का राज़ समझाना है। कायदा तो है एक-एक को अलग-अलग समझाया जाता है। अब वहाँ किसको कैसे समझायेंगे? समझाने के लिए तो एकान्त चाहिए। वहाँ तो बहुत हंगामा होता है। यहाँ तो तुमको एक डेढ घण्टा लग जाता है समझाने में। वहाँ इतनी भीड़ में तो समझाना बड़ा मुश्किल हो जायेगा। अनेक प्रकार के धर्म वाले हैं। कोई क्या कहेंगे, कोई क्या। चुपकर तो बैठेंगे नहीं। तुम सुनायेंगे एक लौकिक जिस्मानी बाप है, दूसरा पारलौकिक रूहानी बाप है। वह है परमपिता परमात्मा। अब ब्रह्मा द्वारा स्थापना कर रहे हैं स्वर्ग की। नर्क का विनाश भी सामने खड़ा है। महाभारी लड़ाई है ना। बरोबर यह राजयोग भी है, राजाई प्राप्त करने की गीता पाठशाला है। भगवानुवाच – सभी को दो बाप हैं। कृष्ण को सभी आत्माओं का बाप नहीं कहेंगे। आत्माओं का बाप परमपिता परमात्मा कहते हैं कि मामेकम् याद करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वयं में ज्ञान का घृत डालते सदा जागती ज्योत रहना है। बाप की याद में रह राहू का ग्रहण उतार देना है।

2) रूहानी और जिस्मानी दो बाप हैं, यह पहचान हर एक को देकर बेहद के वर्से का अधिकारी बनाना है।

वरदान:- बिन्दू रूप में स्थित रह सारयुक्त, योगयुक्त, युक्तियुक्त स्वरूप का अनुभव करने वाले सदा समर्थ भव
क्वेश्चन मार्क के टेढ़े रास्ते पर जाने के बजाए हर बात में बिन्दी लगाओ। बिन्दू रूप में स्थित हो जाओ तो सारयुक्त, योगयुक्त, युक्तियुक्त स्वरूप का अनुभव करेंगे। स्मृति, बोल और कर्म सब समर्थ हो जायेंगे। बिना बिन्दू बने विस्तार में गये तो क्यों, क्या के व्यर्थ बोल और कर्म में समय और शक्तियां व्यर्थ गवां देंगे क्योंकि जंगल से निकलना पड़ेगा इसलिए बिन्दू रूप में स्थित रह सर्व कर्मेन्द्रियों को आर्डर प्रमाण चलाओ।
स्लोगन:- ”बाबा” शब्द की डायमण्ड चाबी साथ रहे तो सर्व खजानों की अनुभूति होती रहेगी।
Font Resize