7 october ki murli

TODAY MURLI 7 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 7 October 2020

07/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, sit here in soul consciousness. Continue to grind into yourself: I am a soul. Become soul conscious! Write your chart honestly and you will continue to become sensible and experience great benefit.
Question: What law do the children who know this unlimited play have to understand very clearly?
Answer: This is an imperishable play in which each actor has to come at his own time to play his part. It is against the law for any actor to say that he wants to stay constantly in the abode of peace. He would not then be called an actor. Only the unlimited Father tells you these unlimited things.

Om shanti. Sit here while considering yourselves to be souls. Sit, having renounced body consciousness. The unlimited Father is explaining to you children. These things have to be explained to those who are senseless. You souls understand that the Father is telling us the truth when He says that we souls have become senseless. I, this soul, am imperishable and this body is perishable. I renounced soul consciousness and became trapped in body consciousness. Therefore, I am senseless. The Father says: All the children have become senseless by coming into body consciousness. You are now being made soul conscious by the Father, and you are therefore becoming completely sensible. Some have become this whereas others are making effort to become this. It has taken you half the cycle to become senseless. Now, in this last birth, you have to become sensible. For half the cycle, you have gradually been becoming senseless and you have now become one hundred per cent senseless! According to the dramaplan, you became body conscious and continued to fall. You have now been given understanding. Nevertheless, you have to continue to make a lot of effort, because you children also have to have divine virtues. You children know that you were completely pure, full of all virtues, 16 celestial degrees full. Now, at this time, you have become virtueless: no virtues left. You children understand this play, numberwise, according to the efforts you make. It has taken some of you so many years to understand this. Nevertheless, some new ones are becoming very sensible; they continue to make effort to make others the same. Some haven’t understood anything at all; they just remain senseless. The Father has come to make you sensible. You children understand that you became senseless because of Maya. When we were worthy of worship we were sensible but we then became worshippers and thereby senseless. The original eternal deity religion has disappeared. No one in the world knows these things. This Lakshmi and Narayan who used to rule the kingdom were so sensible! The Father says: The same applies to you. You must think that the same applies to you. These things have to be understood very clearly. No one but the Father can explain them to you. You now realise that the Father is the highest of all and the most sensible One of all. He is the Ocean of Knowledge, the Bestower of Salvation for All and the Purifier. All of this praise is of the One. The highest-on-high Father comes and says “Child, child” and explains to you so well: Children, you now have to become pure. The Father has only one medicine for this. He says: By having yoga you will become free from disease for your future 21 births. All of your illnesses and suffering will finish and you will go to the land of liberation. The eternal Surgeon has just the one medicine. He comes and gives souls just the one injection. It isn’t that one person would study to become a barrister and also an engineer. No, each person has a profession of his own. You called out to the Father, “Come and make us pure from impure”, because there is sorrow in being impure. The land of silence isn’t called the pure world. Only heaven is called the pure world. It is explained to you that human beings want peace and happiness. True peace exists where there are no bodies, and that is called the abode of peace. Many people say they just want to stay in the abode of peace. However, that isn’t the law. If it were, they wouldn’t be called actors. You children now understand the play. When it is time for an actor to play his part, he goes onto the stage. Only the unlimited Father explains these unlimited things. He is also called the Ocean of Knowledge. He is the Bestower of Salvation for All and the Purifier. It cannot be the elements that purify everyone. Water etc. are elements, so how could they grant salvation? It is souls that play parts. It is souls that play the parts of hatha yoga. Only those who are sensible will understand these things. The Father has told you so much to create a way of explaining to human beings how they become worthy of worship and then worshippers. Those who are worthy of worship exist in the new world whereas worshippers exist in the old world. Those who are pure are worthy of worship, whereas those who are impure are worshippers. Here, everyone is impure because they are born through vice. There, they are elevated. It is remembered: They are completely elevated. You children have to become the same. This requires effort. The main thing is remembrance. You all say that it is difficult to stay in remembrance, that you are unable to stay in remembrance as much as you want to. If you were to write your chart with honesty you would experience great benefit. The Father gives you children the knowledge of “Manmanabhav”. You say this with understanding. The Father explains the right meaning of everything to you accurately. Some children ask the Father many different questions. So, in order to win their hearts, He answers them. However, the Father says: My task is to purify the impure. This is why you called out to Me. You souls know that when you were pure, your bodies were also pure. Now, souls and bodies have become impure. There is the account of 84 births. You know that this world has now become a forest of thorns. Lakshmi and Narayan are flowers. Thorns go in front of them (idols) and say: You are full of all virtues; we are sinful cheats. The biggest thorn is the vice of lust. The Father says: Conquer this and become conquerors of the world. Human beings say that God has to come in one form or another, that He has to enter the Lucky Chariot (Bhagirath). He has to come into the old world to make it new again. The new world is called satopradhan and the old world is called tamopradhan. Since it is now the old world, the Father definitely has to come. The Father is called the Creator. He explains to you children so easily! You should experience so much happiness! If any of you are suffering for your karma, that has to be experienced. Baba cannot give blessings for that. You called out to Me: Baba come and give us our inheritance! What inheritance do you want to claim from the Father? That of liberation and liberation-in-life. Only the one Father, the Ocean of Knowledge, is the Bestower of Liberation and Liberation-in-Life. This is why He is called the Bestower of Knowledge. God gave knowledge but no one knows when He gave it or through whom He gave it. They have mixed everything up together. No one knows to whom He gave knowledge. Now, this Brahma is sitting here; he knows that he was Narayan and that he has taken 84 births. He is now number one. Baba shares his experience of how his eyes opened. You also say that your eyes have opened; the third eye has opened. You say that you have received the full knowledge of the Father and the world cycle. My eyes opened with the understanding: “Whatever I am, however I am.” It is such a wonderFirst, I am a soul, but I considered myself to be a body. The soul says: I shed a body and take another. In spite of that, I forgot that I am a soul and I became body conscious. This is why I first make you understand that you have to sit here and consider yourselves to be souls. Continue to grind into yourselves: I am a soul. By not considering yourselves to be souls, you forget the Father. You really feel that you become body conscious again and again. You have to make effort. While sitting here, sit in the stage of soul consciousness. The Father says: I have come to give you children the kingdom. You have been remembering Me for half the cycle. When a situation comes in front of them, they call out, “O Rama!” However, they don’t know who Ishwar is or who Rama is. You have to prove that the Ocean of Knowledge, the Purifier, the Bestower of Salvation for All, the Trimurti Supreme Father, the Supreme Soul, is Shiva. The births of Brahma, Vishnu and Shankar take place together. It isn’t just Shiv Jayanti, but Trimurti Shiv Jayanti. When it is Shiv’s birthday, it is also definitely Brahma’s birthday. People celebrate the birthday of Shiva, but what did Brahma do? There is a worldly father (lokik), the Father from beyond (parlokik) and then this unique father (alokik). This one is Prajapita Brahma. The Father says: You are now being given new knowledge for the new world. This will then disappear. Those who don’t have the knowledge of the Father, the Creator, and creation are ignorant; they are sleeping in the sleep of ignorance. There is the day through knowledge and the night through devotion. People don’t know the meaning of Shiv Ratri at all, and this is why they have stopped the public holiday for His birthday. You now understand that the Father comes to ignite everyone’s lamp. When you light all the lamps and candles etc., people understand that it is a very important day for you. You now ignite everything with understanding. Those people don’t understand this. They don’t understand this fully from your lectures. Ravan’s kingdom now extends over the whole world. People are so unhappy here. Those with occult power trouble others a great deal. There are articles in the newspapers about evil souls; they cause a great deal of sorrow. Baba says: You have no connection with those things. The Father tells you everything directly: Children, remember Me and you will become pure. All your sorrow will be removed. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make effort to remember the Father accurately and to become soul conscious. Keep your chart honestly. By doing this there will be a lot of benefit.
  2. The thorn that causes the greatest sorrow is the vice of lust. Gain victory over it with the power of yoga and become pure from impure. You have no connection with anything else.
Blessing: May you be a constant destroyer of obstacles by always wearing your obstacle-proof shining, angelic dress.
In order to be a constant destroyer of obstacles for yourself and others, bid farewell to question marks and, by putting a full stop, keep your stock of all powersfull. Always wear your obstacle-proof, shining angelic dress; do not wear a dress of mud. Together with this, remain decorated with the jewellery of all virtues. Always be a Shakti with eight weapons, a complete idol and keep your feet of an elevated life on a lotus flower.
Slogan: Pay fullattention to the study and you will claim a number in the first division.

*** Om Shanti ***

 

Invaluable versions of Mateshwari

 

 

This Godly knowledge is for all human souls.

 

 

First of all, you must definitely keep one point in your mind. Since God is the Seed of the human world tree, and we are receiving knowledge from God, the knowledge that we receive is essential for human beings. People of all religions have a right to receive this knowledge. Although the knowledge of each religion is their own, their scriptures are their own, their opinions are their own, their sanskars are their own, nevertheless, this knowledge is for everyone. Although they may not be able to take this knowledge, and they may not come into our clan, by having yoga with Him, they would definitely become pure because He is the Father of all. Because of this purity, they will definitely claim a status in their own section, because all human beings believe in yoga. Many people say that they want liberation, but, it is only by having this yoga that they can receive the power to become free from punishment and to be liberated.

 

 

The unending chant means constant remembrance of God.

 

 

There is a saying: Continue to chant the unending chant with every breath. What is the accurate meaning of this? When we say that it is the unending chant, the real meaning of it is constantly to connect your intellects in yoga with the Supreme Father, the Supreme Soul, with every breath, without chanting anything. This remembrance of God with every breath has continued all the time. This constant remembrance of God is called the unending chant. Otherwise, to chant something with words, that is, to say, “Rama, Rama”, to silently chant a mantra in your mind, that cannot continue all the time. People think that they do not chant the mantra with their lips, but that to chant it in their heart is the unending chant. However, this is something to think about: Where there are words and the unending chant: there is no need to chant that. You don’t have to sit and concentrate on any idol in your mind. You don’t have to repeat anything because even they cannot constantly eat and drink. However, the remembrance of God that we have, that can continue all the time because it is very easy. For instance, a child remembers his father: he does not have to have his father’s picture in front of him at that time. He remembers everything in his thoughts, words and deeds about his father – his occupation, his activities, his virtues, etc. By remembering that, the child’s activity also continue in the same way, and it is only then that the “son can show the father”. In fact, we also have to remove the remembrance of all others from our hearts and have remembrance of the true Supreme Father, the Supreme Soul. In this, we can continue to stay in constant remembrance while walking and sitting, while eating and drinking. It is by having this remembrance that we can become karmateet. This natural remembrance is called the unending chant. Achcha.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

07-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – आत्म-अभिमानी होकर बैठो, अन्दर घोटते रहो – मैं आत्मा हूँ…. देही-अभिमानी बनो, सच्चा चार्ट रखो तो समझदार बनते जायेंगे, बहुत फायदा होगा”
प्रश्नः- बेहद के नाटक को समझने वाले बच्चे किस एक लॉ (नियम) को अच्छी रीति समझते हैं?
उत्तर:- यह अविनाशी नाटक हैं, इसमें हर एक पार्टधारी को पार्ट बजाने अपने समय पर आना ही है। कोई कहे हम सदा शान्तिधाम में ही बैठ जाएं – तो यह लॉ नहीं है। उसे तो पार्टधारी ही नहीं कहेंगे। यह बेहद की बातें बेहद का बाप ही तुम्हें सुनाते हैं।

ओम् शान्ति। अपने को आत्मा समझकर बैठो। देह-अभिमान छोड़कर बैठो। बेहद का बाप बच्चों को समझा रहे हैं। समझाया उनको जाता है जो बेसमझ होते हैं। आत्मा समझती है कि बाप सच कहते हैं – हम आत्मा बेसमझ बन गई हैं। मैं आत्मा अविनाशी हूँ, शरीर विनाशी है। मैं आत्म-अभिमान छोड़ देह-अभिमान में फँस पड़ा हूँ। तो बेसमझ ठहरे ना। बाप कहते हैं सब बच्चे बेसमझ हो पड़े हैं, देह-अभिमान में आकर। फिर तुम बाप द्वारा देही-अभिमानी बनते हो तो बिल्कुल समझदार बन जाते हो। कोई तो बन गये हैं, कोई पुरूषार्थ करते रहते हैं। आधाकल्प लगा है बेसमझ बनने में। इस अन्तिम जन्म में फिर समझदार बनना है। आधाकल्प से बेसमझ होते-होते 100 प्रतिशत बेसमझ बन जाते हैं। देह-अभिमान में आकर ड्रामा प्लैन अनुसार तुम गिरते आये हो। अभी तुमको समझ मिली है फिर भी पुरूषार्थ बहुत करना है क्योंकि बच्चों में दैवीगुण भी चाहिए। बच्चे जानते हैं हम सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण…… थे। फिर इस समय निर्गुण बन पड़े हैं। कोई भी गुण नहीं रहा है। तुम बच्चों में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार इस खेल को समझते हैं। समझते-समझते भी कितने वर्ष हो गये हैं। फिर भी जो नये हैं वह अच्छे समझदार बनते जाते हैं। औरों को भी बनाने का पुरूषार्थ करते हैं। कोई ने तो बिल्कुल नहीं समझा है। बेसमझ के बेसमझ ही हैं। बाप आये ही हैं समझदार बनाने। बच्चे समझते हैं माया के कारण हम बेसमझ बने हैं। हम पूज्य थे तो समझदार थे फिर हम ही पुजारी बन बेसमझ बने हैं। आदि सनातन देवी-देवता धर्म प्राय: लोप हो गया है। इनका दुनिया में किसको पता नहीं है। यह लक्ष्मी-नारायण कितने समझदार थे, राज्य करते थे। बाप कहते हैं तत् त्वम्। तुम भी अपने लिए ऐसे समझो। यह बहुत-बहुत समझने की बातें हैं। सिवाए बाप के कोई समझा न सके। अभी महसूस होता है – बाप ही ऊंच ते ऊंच समझदार ते समझदार होगा ना। एक तो ज्ञान का सागर भी है। सर्व का सद्गति दाता भी है। पतित-पावन भी है। एक की ही महिमा है। इतना ऊंच ते ऊंच बाप आकरके बच्चे-बच्चे कह कैसे अच्छी रीति समझाते हैं। बच्चे अब पावन बनना है। उसके लिए बाप एक ही दवाई देते हैं, कहते हैं – योग से तुम भविष्य 21 जन्म निरोगी बन जायेंगे। तुम्हारे सब रोग, दु:ख खत्म हो जायेंगे। तुम मुक्तिधाम में चले जायेंगे। अविनाशी सर्जन के पास एक ही दवाई है। एक ही इन्जेक्शन आत्मा को आए लगाते हैं। ऐसे नहीं कोई मनुष्य बैरिस्टरी भी करेंगे, इन्जीनियरी भी करेंगे। नहीं। हर एक आदमी अपने धन्धे में ही लग जाते हैं। बाप को कहते हैं आकर पतित से पावन बनाओ क्योंकि पतितपने में दु:ख है। शान्तिधाम को पावन दुनिया नहीं कहेंगे। स्वर्ग को ही पावन दुनिया कहेंगे। यह भी समझाया है मनुष्य शान्ति और सुख चाहते हैं। सच्ची-सच्ची शान्ति तो वहाँ है जहाँ शरीर नहीं, उसको कहा जाता है शान्तिधाम। बहुत कहते हैं शान्तिधाम में रहें, परन्तु लॉ नहीं है। वह तो पार्ट-धारी हुआ नहीं। बच्चे नाटक को भी समझ गये हैं। जब एक्टर्स का पार्ट होगा तब बाहर स्टेज पर आकर पार्ट बजायेंगे। यह बेहद की बातें बेहद का बाप ही समझाते हैं। ज्ञान सागर भी उनको कहा जाता है। सर्व के सद्गति दाता पतित-पावन हैं। सर्व को पावन बनाने वाले तत्व नहीं हो सकते। पानी आदि सब तत्व हैं, वह कैसे सद्गति करेंगे। आत्मा ही पार्ट बजाती है। हठयोग का भी पार्ट आत्मा बजाती है। यह बातें भी जो समझदार हैं वही समझ सकते हैं। बाप ने कितना समझाया है – कोई ऐसी युक्ति रचो जो मनुष्य समझें – कैसे पूज्य सो फिर पुजारी बनते हैं। पूज्य हैं नई दुनिया में, पुजारी हैं पुरानी दुनिया में। पावन को पूज्य, पतित को पुजारी कहा जाता है। यहाँ तो सब पतित हैं क्योंकि विकार से पैदा होते हैं। वहाँ हैं श्रेष्ठ। गाते भी हैं सम्पूर्ण श्रेष्ठाचारी। अभी तुम बच्चों को ऐसा बनना है। मेहनत है। मुख्य बात है याद की। सभी कहते हैं याद में रहना बड़ा मुश्किल है। हम जितना चाहते हैं, याद में रह नहीं सकते हैं। कोई सच्चाई से अगर चार्ट लिखे तो बहुत फायदा हो सकता है। बाप बच्चों को यह ज्ञान देते हैं कि मनमनाभव। तुम अर्थ सहित कहते हो, तुम्हें बाप हर बात यथार्थ रीति अर्थ सहित समझाते हैं। बाप से बच्चे कई प्रकार के प्रश्न पूछते हैं, बाप करके दिल लेने लिए कुछ कह देते हैं। परन्तु बाप कहते हैं मेरा काम ही है पतित से पावन बनाना। मुझे तो बुलाते ही इसलिए हो। तुम जानते हो हम आत्मा शरीर सहित पावन थी। अभी वही आत्मा शरीर सहित पतित बनी है। 84 जन्मों का हिसाब है ना।

तुम जानते हो – अभी यह दुनिया कांटों का जंगल बन गई है। यह लक्ष्मी-नारायण तो फूल हैं ना। उन्हों के आगे कांटे जाकर कहते हैं आप सर्वगुण सम्पन्न…… हम पापी कपटी हैं। सबसे बड़ा कांटा है – काम विकार का। बाप कहते हैं इस पर जीत पहन जगतजीत बनो। मनुष्य कहते हैं भगवान को कोई न कोई रूप में आना है, भागीरथ पर विराजमान हो आना है। भगवान को आना ही है पुरानी दुनिया को नया बनाने। नई दुनिया को सतोप्रधान, पुरानी को तमोप्रधान कहा जाता है। जबकि अभी पुरानी दुनिया है तो जरूर बाप को आना ही पड़े। बाप को ही रचयिता कहा जाता है। तुम बच्चों को कितना सहज समझाते हैं। कितनी खुशी होनी चाहिए। बाकी किसका कर्मभोग का हिसाब-किताब है, कुछ भी है, वह तो भोगना है, इसमें बाबा आशीर्वाद नहीं करते हैं। हमको बुलाते ही हो – बाबा आकर हमको वर्सा दो। बाबा से क्या वर्सा पाने चाहते हो? मुक्ति-जीवनमुक्ति का। मुक्ति-जीवनमुक्ति का दाता एक ही ज्ञान सागर बाप है इसलिए उनको ज्ञान दाता कहा जाता है। भगवान ने ज्ञान दिया था परन्तु कब दिया, किसने दिया, यह किसको पता नहीं है। सारा मुँझारा इसमें है। किसको ज्ञान दिया, यह भी किसको पता नहीं है। अभी यह ब्रह्मा बैठे हैं – इनको मालूम पड़ा है कि हम सो नारायण था फिर 84 जन्म भोगे। यह है नम्बरवन में। बाबा बतलाते हैं मेरी तो आंख ही खुल गई। तुम भी कहेंगे हमारी तो आंखें ही खुल गई। तीसरा नेत्र तो खुलता है ना। तुम कहेंगे हमको बाप का, सृष्टि चक्र का पूरा ज्ञान मिल गया है। मैं जो हूँ, जैसा हूँ – मेरी आंखें खुल गई हैं। कितना वन्डर है। हम आत्मा फर्स्ट हैं और फिर हम अपने को देह समझ बैठे। आत्मा कहती है हम एक शरीर छोड़ दूसरा लेता हूँ। फिर भी हम अपने को आत्मा भूल देह-अभिमानी बन जाते हैं इसलिए अब तुमको पहले-पहले यह समझ देता हूँ कि अपने को आत्मा समझ बैठो। अन्दर में यह घोटते रहो कि मैं आत्मा हूँ। आत्मा न समझने से बाप को भूल जाते हो। फील करते हो बरोबर हम घड़ी-घड़ी देह-अभिमान में आ जाते हैं। मेहनत करनी है। यहाँ बैठो तो भी आत्म-अभिमानी होकर बैठो। बाप कहते हैं हम तुम बच्चों को राजाई देने आये हैं। आधाकल्प तुमने हमको याद किया है। कोई भी बात सामने आती है तो कहते हैं हाय राम, परन्तु ईश्वर वा राम कौन है, यह किसको पता नहीं। तुमको सिद्ध करना है – ज्ञान का सागर, पतित-पावन, सर्व का सद्गति दाता, त्रिमूर्ति परमपिता परमात्मा शिव है। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर तीनों का जन्म इकट्ठा है। सिर्फ शिवजयन्ती नहीं है परन्तु त्रिमूर्ति शिव जयन्ती है। जरूर जब शिव की जयन्ती होगी तो ब्रह्मा की भी जयन्ती होगी। शिव की जयन्ती मनाते हैं परन्तु ब्रह्मा ने क्या किया। लौकिक, पारलौकिक और यह है अलौकिक बाप। यह है प्रजापिता ब्रह्मा। बाप कहते हैं नई दुनिया के लिए यह नया ज्ञान अभी तुमको मिलता है फिर प्राय: लोप हो जाता है। जिसको बाप रचता और रचना का ज्ञान नहीं तो अज्ञानी ठहरे ना। अज्ञान नींद में सोये पड़े हैं। ज्ञान से है दिन, भक्ति से है रात। शिवरात्रि का अर्थ भी नहीं जानते इसलिए उनकी हॉली डे भी उड़ा दी है।

अभी तुम जानते हो बाप आते ही हैं – सबकी ज्योत जगाने। तुम यह बत्तियां आदि जगायेंगे तो समझेंगे इनका कोई बड़ा दिन है। अब तुम जगाते हो अर्थ सहित। वो लोग थोड़ेही समझेंगे। तुम्हारे भाषण से पूरा समझ नहीं सकते। अभी सारे विश्व पर रावण का राज्य है, यहाँ तो मनुष्य कितने दु:खी हैं। रिद्धि-सिद्धि वाले भी बहुत तंग करते हैं। अखबारों में भी पड़ता है, इनमें ईविल सोल है। बहुत दु:ख देते हैं। बाबा कहते हैं इन बातों से तुम्हारा कोई कनेक्शन नहीं। बाप तो सीधी बात बताते हैं – बच्चे, तुम मुझे याद करो तो तुम पावन बन जायेंगे। तुम्हारे सब दु:ख दूर हो जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) यथार्थ रीति बाप को याद करने वा आत्म-अभिमानी बनने की मेहनत करनी है, सच्चाई से अपना चार्ट रखना है, इसमें ही बहुत-बहुत फायदा है।

2) सबसे बड़ा दु:ख देने वाला कांटा काम विकार है, इस पर योगबल से विजय प्राप्त कर पतित से पावन बनना है। बाकी किन्हीं भी बातों से तुम्हारा कनेक्शन नहीं।

वरदान:- विघ्न प्रूफ चमकीली फरिश्ता ड्रेस धारण करने वाले सदा विघ्न-विनाशक भव
स्व के प्रति और सर्व के प्रति सदा विघ्न विनाशक बनने के लिए क्वेश्चन मार्क को विदाई देना और फुल स्टॉप द्वारा सर्व शक्तियों का फुल स्टॉक करना। सदा विघ्न प्रूफ चमकीली फरिश्ता ड्रेस पहनकर रखना, मिट्टी की ड्रेस नहीं पहनना। साथ-साथ सर्व गुणों के गहनों से सजे रहना। सदा अष्ट शक्ति शस्त्रधारी सम्पन्न मूर्ति बनकर रहना और कमल पुष्प के आसन पर अपने श्रेष्ठ जीवन के पांव रखना।
स्लोगन:- अभ्यास पर पूरा-पूरा अटेन्शन दो तो फर्स्ट डिवीजन में नम्बर आ जायेगा।

 

मातेश्वरी जी के अनमोल महावाक्य

“यह ईश्वरीय नॉलेज सर्व मनुष्य आत्माओं के लिये है”

पहले-पहले तो अपने को एक मुख्य प्वाइन्ट ख्याल में अवश्य रखनी है, जब इस मनुष्य सृष्टि झाड़ का बीज रूप परमात्मा है तो उस परमात्मा द्वारा जो नॉलेज प्राप्त हो रही है वो सब मनुष्यों के लिये जरूरी है। सभी धर्म वालों को यह नॉलेज लेने का अधिकार है। भल हरेक धर्म की नॉलेज अपनी-अपनी है, हरेक का शास्त्र अपना-अपना है, हरेक की मत अपनी-अपनी है, हरेक का संस्कार अपना-अपना है लेकिन यह नॉलेज सबके लिये हैं। भल वो इस ज्ञान को न भी उठा सके, हमारे घराने में भी न आवे परन्तु सबका पिता होने कारण उनसे योग लगाने से फिर भी पवित्र अवश्य बनेंगे। इस पवित्रता के कारण अपने ही सेक्शन में पद अवश्य पायेंगे क्योंकि योग को तो सभी मनुष्य मानते हैं, बहुत मनुष्य ऐसे कहते हैं हमें भी मुक्ति चाहिए, मगर सजाओं से छूट मुक्त होने की शक्ति भी इस योग द्वारा मिल सकती है।

“अजपाजाप अर्थात् निरंतर ईश्वरीय याद”

यह जो कहावत है श्वांसो श्वांस अजपाजाप जपते रहो उसका यथार्थ अर्थ क्या है? जब हम कहते हैं अजपाजाप तो इसका यथार्थ अर्थ है जाप के बिगर श्वांसो-श्वांस अपना बुद्धियोग अपने परमपिता परमात्मा के साथ निरंतर लगाना और यह ईश्वरीय याद श्वांसो-श्वांस कायम चलती आती है, उस निरंतर ईश्वरीय याद को अजपाजाप कहते हैं। बाकी कोई मुख से जाप जपना अर्थात् राम राम कहना, अन्दर में कोई मंत्र उच्चारण करना, यह तो निरंतर चल नहीं सकता। वो लोग समझते हैं हम मुख से मंत्र उच्चारण नहीं करते लेकिन दिल में उच्चारण करना, यह है अजपाजाप। परन्तु यह तो सहज एक विचार की बात है जहाँ अपना शब्द ही अजपाजाप है, जिसको जपने की भी जरूरत नहीं है। आंतरिक बैठ कोई मूर्ति का ध्यान भी नहीं करना है, न कुछ सिमरण करना है क्योंकि वो भी निरंतर खाते पीते रह नहीं सकेंगे लेकिन हम जो ईश्वरीय याद करते हैं, वही निरंतर चल सकती है क्योंकि यह बहुत सहज है। जैसे समझो बच्चा है अपने बाप को याद करता है, तो उसी समय बाप का फोटो सामने नहीं लाना पड़ता है लेकिन मन्सा-वाचा-कर्मणा बाप के सारे आक्यूपेशन, एक्टिविटी, गुणों सहित याद आता है बस, वह याद आने से बच्चे की भी वो एक्ट चलती है, तब ही सन शोज़ फादर करेंगे। वैसे अपने को भी और सबकी याद दिल भीतर से मिटाए, उस एक ही असली पारलौकिक परमपिता परमात्मा की याद में रहना है, इसमें उठते-बैठते, खाते-पीते निरंतर याद में चल सकते हैं। उस याद से ही कर्मातीत बनते हैं। तो इस नेचुरल याद को ही अजपाजाप कहते हैं। अच्छा – ओम् शान्ति।

TODAY MURLI 7 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 7 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 6 October 2019:- Click Here

07/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, always remain happy and the pilgrimage of remembrance will become easy. It is only by having remembrance that you will become pure and charitable souls for 21 births.
Question: Who are your best servants and slaves?
Answer: Natural calamities and the inventions of science, through which the rubbish of the whole world will be cleared away, are your best servants and slaves; they will become your helpers in cleansing everything. Then, all the elements of nature will be under your control.

Om Shanti. What are you sweetest spiritual children doing? You are standing on a battlefield. You are not standing; you are sitting. Your army is so good! This is called the spiritual army of the spiritual Father. He inspires you to make such an easy effort to have yoga with the Father and to gain victory over Ravan. You are called incognito warriors, incognito mahavirs. You gain victory over the five vices, the first one of which is body consciousness. The Father is showing you such easy methods to gain victory over the world and to establish peace in the world. Apart from you children, no one else knows these. You are establishing the kingdom of peace in the world. There, is no name or trace of peacelessness, sorrow or disease there. This study makes you into the masters of the new world. The Father says: Sweetest children, by gaining victory over lust, you become conquerors of the world for 21 births. This is very easy. You are the spiritual army of Shiv Baba. This is not a question of Rama. It is not a question of Krishna either. The Supreme Father, the Supreme Soul, is called Rama. The army etc. of Rama that people have shown is wrong. It is remembered that when the Sun of Knowledge rises, the darkness of ignorance is dispelled. The iron age is extreme darkness. There is so much fighting and battling and violence. This does not happen in the golden age. Look how you are establishing your own kingdom! You don’t use your hands or feet in this. Here, you have to break body consciousness. When living at home, first of all, remember this: I am a soul, not a body. It is only you souls who take 84 births. This is now your final birth. The old world has to end. This is called the leap age, the most auspicious confluence age. The topknot is small. The topknot of Brahmins is very well known. The Father explains to you so easily. You come and study this with the Father every 5000 years in order to attain a kingdom. Your aim and objective is in front of you: We have to become this through Shiv Baba. Yes children, why not? Simply renounce body consciousness, consider yourselves to be souls and remember the Father and your sins will be cut away. You know that, by becoming pure in this birth, you souls become pure and charitable for 21 births and then your descent begins. You know that only you go around the cycle of 84 births; the whole world does not go around the full cycle. Only those who go around the cycle of 84 and who belong to this religion will come. Only the Father establishes the golden and silver ages. He is doing that now and then the copper and iron ages are the establishment of Ravan. There is the image of Ravan. It has the head of a donkey. They become vicious donkeys. You understand what you were. This is the world of sinful souls. There are millions of human beings in the world of sinful souls. In the world of pure and charitable souls, there are only 900,000 in the beginning. You are now becoming the masters of the whole world. This Lakshmi and Narayan were the masters of the world. It would definitely only be the Father who gives you the sovereignty of heaven. The Father says: I have come here to give you the sovereignty of the world. You now definitely have to become pure and, in that too, become pure in this final birth in the land of death. Destruction of the old world is ready in front of you. They are preparing the bombs etc. in such a way that, whilst sitting at home, they can finish everyone off. They even say: Whilst sitting at home, we will destroy the whole old world. Whilst sitting at home, they will release the bombs etc. in such a way that the whole world will be destroyed. Whilst sitting at home, you children become the masters of the world with the power of yoga. You are establishing peace with the power of yoga and they will destroy the whole world with the power of science. They are your servants. They are serving you; they finish the old world. All the natural calamities etc. become your slaves. All of nature becomes your slave. You simply have yoga with the Father. Therefore, you children should have a lot of happiness inside you. You should remember such a beloved Father so much. This whole of Bharat was Shivalaya. In the golden age, people were completely viceless whereas here, they are vicious. You have now remembered that the Father had told you: Hear no evil! Do not listen to dirty things. Don’t even say such things. The Father explains: You have become so dirty. You had a lot of wealth. You were the masters of heaven. Instead of the masters of heaven you have now become the masters of hell. This drama is predestined. Every 5000 years, I remove you children from the depths of hell and take you to heaven. Spiritual children, will you not obey My directions? The Supreme Soul says: Become the masters of the pure world. So, will you not become that? Destruction will definitely take place. Your sins of many births will be cut away with this power of yoga. However, it does take time to cut away the sins of many births. The children who have been here from the beginning are unable to have even 10% yoga and this is why their sins cannot be cut away. New children quickly become yogis so that their sins are cut away and they begin to do service. You children understand that you now have to return home. The Father has come to take you back. Sinful souls cannot go to the land of peace or the land of happiness; they simply stay in the land of sorrow. This is why the Father now says: Remember Me and your sins will be burnt away. O children, become beautiful flowers! Do not defame the divine clan. Because of being vicious, you have become so unhappy. This is the predestined play of the drama. If you don’t become pure, you can’t go to the pure world of heaven. Bharat was heaven. It used to be the land of Krishna, whereas all are now residents of hell. So, you children should renounce the vices with great happiness. You instantly have to renounce drinking poison. You cannot go to Paradise whilst drinking poison. You now have to become pure in order to go there. You can explain how they claimed their kingdom by studying Raja Yoga. This is a study. It is the same as having yoga to become a barrister or a surgeon. By having yoga with a surgeon, you become a surgeon. These then are the versions of God. How does He enter the chariot? He says: At the end of his many births, I sit in him and give you children knowledge. I know that he was the pure master of the world. He has now become impure and poverty-stricken and he will then claim number one. I enter him and give you children knowledge. The unlimited Father says: Children, become pure and you will become constantly happy. The golden age is the land of immortality and the copper and iron ages are the land of death. The Father explains to you children so clearly. You become soul conscious here but you then become body conscious and are defeated by Maya. You are hit by one of Maya’s canon gun in such a way that you completely fall into the gutter. The Father says: This is a gutter. This is not happiness. Just imagine what heaven will be! Look at the deities’ way of living! The very name is heaven! You are being made into the masters of heaven and, in spite of that, you say that you will definitely drink poison! Then you won’t be able to go to heaven; there will be a lot of punishment experienced. You children have to battle with Maya. Some become body conscious and perform very dirty actions. They think that no one is watching them. Anger and greed are not private. There is privacy in lust. They dirty their faces. By dirtying your faces, you became ugly from beautiful and the whole world then followed you. Such an impure world definitely has to change. The Father says: Aren’t you ashamed that you are not becoming pure for just one birth? God speaks: Lust is the greatest enemy. In fact, when you were the residents of heaven, you were so wealthy, don’t even ask! Some children say: Baba, come to our city. Should I go and see monkeys in the jungle of thorns? You children definitely have to do service according to the drama. It is remembered, “Father shows son. It is you children who have to go and benefit everyone. The Father explains to you children: Don’t forget that you are on a battlefield. Your battle is with the five vices. This path of knowledge is completely separate. The Father says: I make you into the masters of heaven for 21 births and then, who makes you into residents of hell? Ravan. You can see the difference. You adopted gurus for birth after birth on the path of devotion and you didn’t receive anything. That One is called the Satguru. Sikhs call the Satguru the Image of Immortality. Death doesn’t come to Him. That Satguru is the Death of all deaths. The Father says: I come to liberate all of you children from the clutches of death. Then, in the golden age, death doesn’t come at all. That is called the land of immortality. You are now becoming the masters of the land of immortality, the golden age, by following shrimat. Look what your battle is like! The whole world is fighting and quarrelling with one another. Your battle is with Ravan, the five vices. You conquer those. This is your final birth. The Father says: I am the Lord of the Poor. Only the poor come here. This is not in the fortune of the wealthy. They remain proud and intoxicated by their wealth. All of that is going to end. There is very little time left; there is the drama plan. All of those bombs etc. that have been manufactured are definitely going to be used. Previously, war used to take place with bows and arrows and swords and then guns etc. They have now invented such bombs that, whilst sitting at home, they can finish everyone off. Those things have not been manufactured just for keeping. For how long would they keep them? The Father has come and so destruction will definitely take place. The cycle of the drama continues to turn. Your kingdom is definitely going to be established. Lakshmi and Narayan never battle. In the scriptures it has been said that a battle took place between the devils and the deities, but how can those who are in the golden age meet those who are in the iron age that a battle could take place? You now understand that you are battling with the five vices. You will conquer them and become completely viceless and then become the masters of the viceless world. Whether walking around or sitting, you have to remember the Father. You have to imbibe divine virtues. This drama is predestined. Some don’t have it in their fortune at all. Only when you have the power of yoga can your sins be absolved. Only when you become perfect can you go to the perfect world. The Father continues to blow the conch shell. Those people then sat and created the conch shell and also the flute on the path of devotion. The Father explains everything through this mouth. This is the study of Raja Yoga. The study is very easy: Remember the Father and remember your kingdom. Recognise the unlimited Father and claim the kingdom. Forget this world. You are unlimited sannyasis. You know that the whole of the old world is to be destroyed. There was just Bharat in the kingdom of Lakshmi and Narayan. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not have your deity clan defamed. Become beautiful flowers. Do service for the benefit of many souls and reveal the Father.
  2. In order to become completely viceless, do not listen to or say dirty things. Hear no evil, talk no evil… Don’t perform any dirty acts under the influence of body consciousness.
Blessing: May you be a true Raj Rishi and with your attitude of disinterest, remain free from attachment to this tasteless world.
A Raj Rishi means to be one with unlimited disinterest while having a kingdom and not to have the slightest attachment to the body or the old world of the body because you know that this old world is a tasteless world and it has no essence in it. In this tasteless world, you found the elevated world of Brahmins and so, you have unlimited disinterest for that world, that is, there isn’t the slightest attachment. When there isn’t any attachment or subservience to anyone, you would then be called a Raj Rishi or a tapaswi.
Slogan: Yuktiyukt words are those that are sweet and filled with good wishes.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 October 2019

To Read Murli 6 October 2019:- Click Here
07-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – सदा खुशी में रहो तो याद की यात्रा सहज हो जायेगी, याद से ही 21 जन्मों के लिए पुण्य आत्मा बनेंगे”
प्रश्नः- तुम्हारे सबसे अच्छे सर्वेन्ट वा गुलाम कौन हैं?
उत्तर:- नैचुरल कैलेमिटीज वा साइंस की इन्वेन्शन, जिससे सारे विश्व का किचड़ा साफ होता है। यह तुम्हारे सबसे अच्छे सर्वेन्ट वा गुलाम हैं जो सफाई में मददगार बनते हैं। सारी प्रकृति तुम्हारे अधिकार में रहती है।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे क्या कर रहे हैं? युद्ध के मैदान में खड़े हैं। खड़े तो नहीं, तुम तो बैठे हो ना। तुम्हारी सेना कैसी अच्छी है। इनको कहा जाता है रूहानी बाप की रूहानी सेना। रूहानी बाप के साथ योग लगाकर रावण पर जीत पाने का कितना सहज पुरूषार्थ कराते हैं। तुमको कहा जाता है गुप्त वारियर्स, गुप्त महावीर। पांच विकारों पर तुम विजय पाते हो, उसमें भी पहले है देह-अभिमान। बाप विश्व पर जीत पाने वा विश्व में शान्ति स्थापन करने के लिए कितनी सहज युक्ति बताते हैं। तुम बच्चों बिगर और कोई नहीं जानते। तुम विश्व में शान्ति का राज्य स्थापन कर रहे हो। वहाँ अशान्ति, दु:ख, रोग का नाम-निशान नहीं होता। यह पढ़ाई तुमको नई दुनिया का मालिक बनाती है। बाप कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, काम पर जीत पाने से तुम 21 जन्मों के लिए जगत जीत बनते हो। यह तो बहुत सहज है। तुम हो शिवबाबा की रूहानी सेना। राम की बात नहीं, कृष्ण की भी बात नहीं है। राम कहा जाता है परमपिता परमात्मा को। बाकी वह जो राम की सेना आदि दिखाते हैं, वह सब है रांग। गाया भी जाता है ज्ञान सूर्य प्रगटा, अज्ञान अन्धेर विनाश। कलि-युग घोर अन्धियारा है। कितना लड़ाई-झगड़ा मारामारी है। सतयुग में यह होती नहीं। तुम अपना राज्य देखो कैसे स्थापन करते हो। कोई भी हाथ पांव इसमें नहीं चलाते हो, इसमें देह का भान तोड़ना है। घर में रहते हो तो भी पहले यह याद करो – हम आत्मा हैं, देह नहीं। तुम आत्मायें ही 84 जन्म भोगती हो। अभी तुम्हारा यह अन्तिम जन्म है। पुरानी दुनिया खत्म होनी है। इसको कहा जाता है पुरूषोत्तम संगमयुग का लीप युग। चोटी छोटी होती है ना। ब्राह्मणों की चोटी मशहूर है। बाप कितना सहज समझाते हैं। तुम हर 5 हज़ार वर्ष के बाद आकर बाप से यह पढ़ते हो, राजाई प्राप्त करने के लिए। एम ऑब्जेक्ट भी सामने है – शिवबाबा से हमको यह बनना है। हाँ बच्चों, क्यों नहीं। सिर्फ देह-अभिमान छोड़ अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो तो पाप कट जाएं। तुम जानते हो इस जन्म में पावन बनने से हम 21 जन्म पुण्य आत्मा बनते हैं फिर उतराई शुरू होती है। यह भी जानते हो हमारा ही 84 का चक्र है। सारी दुनिया तो नहीं आयेगी। 84 के चक्र वाले और इस धर्म वाले ही आयेंगे। सतयुग और त्रेता बाप ही स्थापन करते हैं। जो अब कर रहे हैं फिर द्वापर-कलियुग रावण की स्थापना है। रावण का चित्र भी है ना। ऊपर में गधे का शीश है। विकारी टट्टू बन जाते हैं। तुम समझते भी हो – हम क्या थे! यह है ही पाप आत्माओं की दुनिया। पाप आत्माओं की दुनिया में करोड़ों आदमी हैं। पुण्य आत्माओं की दुनिया में होते हैं 9 लाख शुरू में। तुम अभी सारे विश्व के मालिक बनते हो। यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे ना। स्वर्ग की बादशाही तो जरूर बाप ही देंगे। बाप कहते हैं मैं तुमको विश्व की बादशाही देने आया हूँ। अब पावन जरूर बनना पड़े। सो भी यह अन्तिम जन्म मृत्युलोक का पवित्र बनो। इस पुरानी दुनिया का विनाश सामने तैयार है। बॉम्ब्स आदि सब ऐसे तैयार कर रहे हैं जो वहाँ घर बैठे खलास कर देंगे। कहते भी हैं घर बैठे पुरानी दुनिया का विनाश कर देंगे। यह बॉम्ब्स आदि घर बैठे ऐसे छोड़ेंगे जो सारी दुनिया को खत्म करेंगे। तुम बच्चे घर बैठे योगबल से विश्व के मालिक बन जाते हो। तुम शान्ति स्थापन कर रहे हो योगबल से। वह साइंस बल से सारी दुनिया खलास कर देंगे। वह तुम्हारे सर्वेन्ट हैं। तुम्हारी सर्विस कर रहे हैं। पुरानी दुनिया खत्म कर देते हैं। नैचुरल कैलेमिटीज आदि यह सब तुम्हारे गुलाम बनते हैं। सारी प्रकृति तुम्हारी गुलाम बन जाती है। सिर्फ तुम बाप से योग लगाते हो। तो तुम बच्चों के अन्दर में बड़ी खुशी होनी चाहिए। ऐसे बिलवेड बाप को कितना याद करना चाहिए। यही भारत पूरा शिवालय था। सतयुग में सम्पूर्ण निर्विकारी, यहाँ हैं विकारी। अभी तुमको स्मृति आई है – बरोबर बाप ने हमें कहा है हियर नो ईविल……. गन्दी बातें मत सुनो। मुख से बोलो भी नहीं। बाप समझाते हैं तुम कितने डर्टी बन गये हो। तुम्हारे पास तो अथाह धन था। तुम स्वर्ग के मालिक थे। अभी तुम स्वर्ग के बदले नर्क के मालिक बन पड़े हो। यह भी ड्रामा बना हुआ है। हर 5 हज़ार वर्ष बाद तुम बच्चों को हम रौरव नर्क से निकाल स्वर्ग में ले जाता हूँ। रूहानी बच्चे क्या तुम मेरी बात नहीं मानेंगे? परमात्मा कहते हैं तुम पवित्र दुनिया का मालिक बनो तो क्या नहीं बनेंगे?

विनाश तो जरूर होगा। इस योगबल से ही तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप कटेंगे। बाकी जन्म-जन्मान्तर के पाप कटने में टाइम लगता है। बच्चे शुरू से आये हुए हैं, 10 परसेन्ट भी योग नहीं लगता है इसलिए पाप कटते नहीं हैं। नये-नये बच्चे झट योगी बन जाते हैं तो पाप कट जाते हैं और सर्विस करने लग पड़ते हैं। तुम बच्चे समझते हो अब हमको वापिस जाना है। बाप आया हुआ है ले जाने। पाप-आत्मायें तो शान्तिधाम-सुख-धाम में जा न सकें। वह तो रहती हैं दु:खधाम में, इसलिए अब बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम्हारे पाप भस्म हो जाएं। अरे बच्चे गुल-गुल (फूल) बन जाओ। दैवी कुल को कलंक नहीं लगाओ। तुम विकारी बनने के कारण कितने दु:खी हो गये हो। यह भी ड्रामा का खेल बना हुआ है। पवित्र नहीं बनेंगे तो पवित्र दुनिया स्वर्ग में नहीं आयेंगे। भारत स्वर्ग था, कृष्णपुरी में था, अभी नर्कवासी है। तो तुम बच्चों को तो खुशी से विकारों को छोड़ना चाहिए। विष पीना फट से छोड़ना है। विष पीते-पीते तुम वैकुण्ठ में थोड़ेही जा सकेंगे। अभी यह बनने के लिए तुमको पवित्र बनना है। तुम समझा सकते हो – इन्होंने यह राजाई कैसे प्राप्त की है? राजयोग से। यह पढ़ाई है ना। जैसे बैरिस्टरी योग, सर्जन योग होता है। सर्जन से योग तो सर्जन बनेंगे। यह फिर है भगवानुवाच। रथ में कैसे प्रवेश करते हैं? कहते हैं बहुत जन्मों के अन्त में मैं इनमें बैठ तुम बच्चों को नॉलेज देता हूँ। जानता हूँ यह विश्व के मालिक पवित्र थे। अब पतित कंगाल बने हैं फिर पहले नम्बर में यह जायेंगे। इसमें ही प्रवेश कर तुम बच्चों को नॉलेज देते हैं। बेहद का बाप कहते हैं – बच्चे, पवित्र बनो तो तुम सदा सुखी बनेंगे। सतयुग है अमरलोक, द्वापर कलियुग है मृत्युलोक। कितना अच्छी रीति बच्चों को समझाते हैं। यहाँ देही-अभिमानी बनते हैं फिर देह-अभिमान में आकर माया से हार खा लेते हैं। माया की एक ही तोप ऐसी लगती है जो एकदम गटर में गिर पड़ते हैं। बाप कहते हैं यह गटर है। यह कोई सुख थोड़ेही है। स्वर्ग तो फिर क्या! इन देवताओं की रहनी-करनी देखो कैसी है। नाम ही है स्वर्ग। तुमको स्वर्ग का मालिक बनाते हैं फिर भी कहते हैं हम विष जरूर पियेंगे! तो स्वर्ग में आ नहीं सकेंगे। सज़ा भी बहुत खायेंगे। तुम बच्चों की माया से युद्ध है। देह-अभिमान में आकर बहुत छी-छी काम करते हैं। समझते हैं हमको कोई देखता थोड़ेही है। क्रोध-लोभ तो प्राइवेट नहीं होता। काम में प्राइवेसी चलती है। काला मुँह करते हैं। काला मुँह करते-करते तुम गोरे से सांवरे बन गये तो सारी दुनिया तुम्हारे पिछाड़ी आ गई। ऐसी पतित दुनिया को बदलना जरूर है। बाप कहते हैं – तुमको शर्म नहीं आती है, एक जन्म के लिए पवित्र नहीं बनते हो।

भगवानुवाच – काम महाशत्रु है। वास्तव में तुम स्वर्गवासी थे तो बड़े धनवान थे। बात मत पूछो। बच्चे कहते हैं बाबा हमारे शहर में चलो। क्या कांटों के जंगल में बन्दरों को देखने चलूँ! तुम बच्चों को ड्रामा अनुसार सर्विस करनी ही है। गाया जाता है फादर शोज़ सन। बच्चों को ही जाकर सबका कल्याण करना है। बाप बच्चों को समझाते हैं – यह भूलो मत – हम युद्ध के मैदान में हैं। तुम्हारी युद्ध है 5 विकारों से। यह ज्ञान मार्ग बिल्कुल अलग है। बाप कहते हैं मैं तुमको स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ 21 जन्मों के लिए, फिर तुमको नर्क-वासी कौन बनाते हैं? रावण। फर्क तो देखते हो ना। जन्म-जन्मान्तर तुमने भक्ति मार्ग में गुरू किये, मिला कुछ भी नहीं। इनको कहा जाता है सतगुरू। सिक्ख लोग कहते हैं ना – सतगुरू अकाल मूर्त। उनको कभी कोई काल खाता नहीं। वह सतगुरू तो कालों का काल है। बाप कहते हैं मैं तुम सब बच्चों को काल के पंजे से छुड़ाने आया हूँ। सतयुग में फिर काल आता ही नहीं है, उनको अमरलोक कहा जाता है। अभी तुम श्रीमत पर अमरलोक सतयुग के मालिक बन रहे हो। तुम्हारी लड़ाई देखो कैसी है। सारी दुनिया एक-दो में लड़ती-झगड़ती रहती है। तुम्हारी फिर है रावण 5 विकारों के साथ युद्ध। उन पर जीत पाते हो। यह है अन्तिम जन्म।

बाप कहते हैं मैं गरीब निवाज़ हूँ। यहाँ आते ही गरीब हैं। साहूकारों की तो तकदीर में ही नहीं है। धन के नशे में ही मगरूर रहते हैं। यह सब खत्म हो जाने वाला है। बाकी थोड़ा समय है। ड्रामा का प्लैन है ना। यह इतने बाम्बस आदि बनाये हैं, वह काम में जरूर लाने हैं। पहले तो लड़ाई बाणों से, तलवारों से, बन्दूकों आदि से चलती थी। अभी तो बॉम्ब्स ऐसी चीज़ निकली है जो घर बैठे ही खलास कर देंगे। यह चीजें कोई रखने के लिए थोड़ेही बनाई हैं। कहाँ तक रखेंगे। बाप आये हैं तो विनाश भी जरूर होना है। ड्रामा का चक्र फिरता रहता है, तुम्हारी राजाई जरूर स्थापन होनी है। यह लक्ष्मी-नारायण कभी लड़ाई नहीं करते हैं। भल शास्त्रों में दिखाया है – असुरों और देवताओं की लड़ाई हुई परन्तु वह सतयुग के, वह असुर कलियुग के। दोनों मिलेंगे कैसे जो लड़ाई होगी। अभी तुम समझते हो हम 5 विकारों से युद्ध कर रहे हैं। इन पर जीत पाकर सम्पूर्ण निर्विकारी बन निर्विकारी दुनिया के मालिक बन जायेंगे। उठते-बैठते बाप को याद करना है। दैवीगुण धारण करने हैं। यह बना-बनाया ड्रामा है। कोई-कोई के नसीब में ही नहीं है। योगबल हो तब ही विकर्म विनाश हों। सम्पूर्ण बनें तब तो सम्पूर्ण दुनिया में आ सकें। बाप भी शंख ध्वनि करते रहते हैं। उन्होंने फिर भक्ति मार्ग में शंख व तुतारी आदि बैठ बनाई है। बाप तो इस मुख द्वारा समझाते हैं। यह पढ़ाई है राजयोग की। बहुत सहज पढ़ाई है। बाप को याद करो और राजाई को याद करो। बेहद के बाप को पहचानो और राजाई लो। इस दुनिया को भूल जाओ। तुम बेहद के सन्यासी हो। जानते हो पुरानी दुनिया सारी खत्म होनी है। इन लक्ष्मी-नारायण के राज्य में सिर्फ भारत ही था। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने दैवी कुल को कलंक नहीं लगाना है। गुल-गुल बनना है। अनेक आत्माओं के कल्याण की सर्विस कर बाप का शो करना है।

2) सम्पूर्ण निर्विकारी बनने के लिए गंदी बातें न तो सुननी है, न मुख से बोलनी है। हियर नो ईविल, टॉक नो ईविल…… देह-अभिमान के वश हो कोई छी-छी काम नहीं करने हैं।

वरदान:- वैराग्य वृत्ति द्वारा इस असार संसार से लगाव मुक्त रहने वाले सच्चे राजऋषि भव
राजऋषि अर्थात् राज्य होते हुए भी बेहद के वैरागी, देह और देह की पुरानी दुनिया में जरा भी लगाव नहीं क्योंकि जानते हैं यह पुरानी दुनिया है ही असार संसार, इसमें कोई सार नहीं है। असार संसार में ब्राह्मणों का श्रेष्ठ संसार मिल गया इसलिए उस संसार से बेहद का वैराग्य अर्थात् कोई भी लगाव नहीं। जब किसी में भी लगाव वा झुकाव न हो तब कहेंगे राजऋषि वा तपस्वी।
स्लोगन:- युक्तियुक्त बोल वह हैं जो मधुर और शुभ भावना सम्पन्न हो।

TODAY MURLI 7 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 October 2018 :- Click Here

07/10/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
22/01/84

The way to become a well-known server.

Today, BapDada is seeing the Deepmala (rosary of lights) of the stable ignited lamps. He is seeing how each of you ignited lamps is unshakeable, free from obstacles and giving light to the world with your own light. This light of the lamps is the light that will awaken souls. You have awakened in order to awaken others and remove the wall of ignorance that is in front of all souls of the world. Because of the darkness, those who have been stumbling around in many different ways are looking with a lot of love at you lamps who have awakened, in the hope that you will fulfil their desires and their need for light. You have to give the light of knowledge to souls who are wandering around in darkness so that the lamps in every home become ignited. (The lights went out.) Even now, do you like this darkness? You love light, do you not? So, similarly, forge a connection with the Father. Give them the knowledge of how to forge a connection.

All of you double foreigners have been refreshed, that is, you have become powerful lighthouse smight-house s , knowledge-full, powerful and successful and are going back to your own service places in order to come back again. To go means to play the part of being an embodiment of success and to come back having multiplied one many times over. You are going in order to bring all the other souls of your family to the Father’s home. Just as soldiers with physical strength and the power of science go onto a battlefield to engage in a limited battle, equipped with all weapons, to claim medal s of victory, in the same way, all of you spiritual warriors are going onto the field of service in order to hoist the flag of victory. The more victorious you become, the more medals of victory of love, co-operation, closeness and perfection you will receive from the Father. Therefore, now check how many medals you have received so far. Whatever specialities or titles that have been given there are, how many of those medals have you adopted? You have made a list of special titles, have you not? Keep that list in front of you and check yourself as to whether you have received all of those medals. As yet, the list you have made is very short. Let there be at least 108. Then, seeing so many medals of yours, keep yourself intoxicated with being decorated with so many medals. To go means to carry out a special task and to continue to receive the newest medals. You receive a medal according to the task you carry out. So, this year, all the children who are instruments for service have to have the aim of carrying out a special new task which up to now has still been hidden in the drama, but is fixed. Now, reveal that task. In the world outside, when you carry out a special task, you become very well-known. As well as being known for your speciality everywhere, you also become known as a special soul. In the same way, let each of you think that you have to carry out a special task – that you have to receive a medal of victory. Become well known within the Brahmin family as being in the list of special servers. Stay in spiritual intoxication, not in the intoxication of your name. With the spiritual intoxication of service, become well known with the certificate of being a humble instrument.

Today is a congratulations ceremony for the double-foreigners’ group who have become victorious and are going to their place of victory. When anyone goes to a place of victory, they go in great splendour, with bands playing in happiness, and they are congratulated with the tilak of victory. It is not farewell (vidaai), but congratulations (badhaai), because BapDada and the family know that victory is guaranteed for such servers. This is why you are celebrating the congratulations ceremony. Victory is already guaranteed, is it not? Simply become an instrument and repeat that because by doing it, you will do it as an instrument and receive the reward of it. The action is just in name because its visible fruit is guaranteed. You are going with the zeal and enthusiasm of this faith, to make others claim their right and bring them here. You have the infinite treasure of rights and, as great donors, are going to donate them and perform charity. We shall now see whether the Pandavas go ahead or the Shaktis go ahead. Whoever carries out a special new task will receive a medal. Either you can make souls emerge for such special service, or you can enable the service place to grow more. Or, you can demonstrate spreading your name everywhere by carrying out a special task; and then again you might prepare such a big group and bring it in front of BapDada. Those who do any of these types of special service will receive a medal of victory. Those who carry out such special tasks also receive full co-operation. Others will offer you a ticket. When all of you went out on service in the beginning, you used to travel firstclass to serve. Now, however, you buy your own tickets and you travel second or thirdclass. Now do service of such a Company (organisation) and everything will become possible. Servers receive all facilities. Do you understand? All of you have become content and are going back victorious, are you not? You are not taking back any type of weakness with you, are you? You have sacrificed weaknesses and are going back having become powerful souls, are you not? There aren’t any weaknesses remaining, are there? If anything is left, then make special time to end it and then go from here. Achcha.

To such constantly unshakeable ignited lamps who always end darkness with the light of knowledge, to those who always play special parts with some speciality of service, to those who attain all the medals which are received from the Father, to those who constantly have faith that victory is guaranteed, to such souls who have the imperishable tilak of victory, to those who are always full of all attainments, to the content souls, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting Jagdishbhai:

The jewels who have been sustained with sakar sustenance from BapDada are valued. In the world too, there is nothing like the fruit that becomes ripe on the tree. Today, everyone looks at such experienced souls with so much love. You attained a blessing in your first meeting. Sustenance means you have grown with blessings. This is why by giving sustenance to many souls with your experience of sustenance you will always continue to inspire them to move forward. You will continue to float in the waves of different relationships and different experiences with the Ocean. At the beginning of service, at the time of economy, you became an instrument. Because of being an instrument at the time of economy, the fruit of service is always elevated. You became co-operative at the right time and this is why you received blessings. Achcha.

BapDada speaking for the conference :

When all of you carry out a task together with united in your zeal and enthusiasm, you easily receive success in that. Because the task is being carried out with everyone’s enthusiasm, it will definitely be successful. To unite everyone is also a sign of greatness. When everyone is united, other souls are also able to come closer to celebrate a meeting. To unite the thoughts of hearts means to enable many souls to celebrate a meeting. You are doing everything with this aim and will continue to do so. Achcha. Are all the foreigners all right? Are you content? All of you have now grown up. You are now those who look after everything. Previously, you were still young and so you used to play games of mischief, whereas you have now become those who look after others. It isn’t that you need someone to look after you. Now, you are not those who take effort, but those who make effort on others. You are not those who complain, but are complete. You don’t have any complaints now, nor will you have any complaints later. It is like this, is it not? Always give news of happiness. For those who didn’t come, make them into conquerors of Maya. They won’t then have to write many letters. Simply, I am OK. You may write good things, but in short. Achcha.

Speaking to the teachers :

BapDada has special love for the teachers because you are equal. The Father is the Teacher and you are master teachers. In any case, those who are equal are loved very much. You are moving forward in service with very good zeal and enthusiasm. All of you are rulers of the globe. You toured around and came into contact with many souls and are carrying out the task of bringing many souls close. BapDada is pleased. You do feel that BapDada is pleased with you, do you not? Or, do you feel that you still have to please a little more? He is pleased, but you have to please Him a little more. You are working very hard. You work hard with love and this is why it doesn’t feel like hard work. BapDada always says that serviceable children are the crown on the head. You are the crowns on the head. Seeing the zeal and enthusiasm of the children, BapDada gives further co-operation to increase the zeal and enthusiasm. One step of the children and multi-million steps of the Father. Where there is courage, there is automatically the attainment of enthusiasm. When you have courage, you receive the Father’s help. This is why you are carefree emperors. Continue to serve and you will continue to receive success. Achcha.

The reason for peacelessness is lack of attainment and the reason for lack of attainment

is impurity. (Avyakt BapDada meeting the guests after the conference ).

Today, the Father, the Ocean of Love and the Ocean of Peace, has come to meet His children who love peace and who are embodiments of love. Seeing the one desire of all the souls of the world for peace and true love, BapDada has come to you children to show you the easy way to fulfil that desire. Seeing all the different methods that the children have been using over a long period of time in order to fulfil that desire, the Merciful Father has mercy for you children: You are the children of the Bestower and are asking for a moment’s peace or peace for a short time. The children who have a right have become beggars and are wandering around for peace and love. Whilst wandering around, some children have become disheartened. The question arises: Can there be imperishable peace in the world? Can all souls have true, selfless love?

In order to answer the children’s question, the Father Himself has had to come. BapDada has come to give you children the good news: Yesterday, you, My children, were the masters of the world of peace and happiness. All souls were bound by the thread of true love. Peace and love were the speciality of your lives. You think that there should be the world of love, the world of happiness and the world of liberation-in-life that you now desire. Yesterday, you were the masters of that world. Today, you are creating that world and tomorrow you will be in that world. It is a matter of only tomorrow. Tomorrow, this land of yours will be the land of heaven. Have you forgotten that it was your kingdom, a kingdom full of happiness, where there was no name or trace of sorrow or peacelessness, where nothing was lacking? Some lack of attainment is the reason for peacelessness and the reason for a lack of attainment is impurity. So, what would there be where there is no impurity and nothing is lacking? Whatever desires you have and whatever plans you create, they will be made practicalthere. That destiny of the drama is firm and unshakeable; no one can change it. The predestined destiny is already created. The new creation has already been created by the Father. Who are all of you? You are the foundation stone of the new creation. It is because you consider yourselves to be the foundation stonethat you have come here. Brahmin souls means images of support for the new world. BapDada is pleased to see the children who are images of support. BapDada also sings the song: Wah, My beloved long-lost and now-found sweetest children! You also sing songs, do you not? You say: You alone are mine and the Father says: You alone are Mine. You used to sing these songs a lot in your childhood, did you not? (Two or three sisters sang that song and BapDada responded in return.)

No matter what the sound coming from the mouth is like BapDada hears the sound of the heart. The Father created the song and the children sang it. Achcha. (BapDada was meeting the conference guests in the Meditation Hall and some brothers and sisters were listening to the murli in the History Hall below and in Om Shanti Bhavan) Some children are sitting down below too. BapDada is seeing the faces of love and hearing their sweet complaints. All of you children play your parts of world service from the depths of your hearts with a lot of love. BapDada is congratulating all of you for your love and is swinging you in swings of love. May you have a long life! May you continue to make progress, continue to fly and remain constantly successful! The co-operation of everyone’s love has made the task of the world successful. If BapDada were to see the love-filled efforts that each child has made and then speak about them day and night, even that would then be too little. Just as the Father’s praise is limitless, so too, the praise of the serviceable children of the Father is also limitless. Love for One, enthusiasm for one thing and the one determined thought of definitely having to give all souls of the world the message of peace. There is success in the practical form of this love and there always will be. Those who are far away are also close. You are not sitting down below, but in BapDada’s eyes. Some are going back by train and others by bus, but the Father remembers everyone. The thoughts of their minds reach BapDada. Achcha.

You are not guests who have come to the Father’s home, but you are those who are going to become great souls. BapDada doesn’t see all of you as IPs or VIPs, but as long-lost and now-found children. VIPs will come and see and hear everything for a little while and go away, but children are always seated on the heart throne. No matter where you go, you will be in the heart. Congratulations for reaching your home, the Father’s home. BapDada considers all of you children to be the decoration of Madhuban, His home. Children are the decoration of a home. Who are all of you? You are the decoration, are you not? Achcha.

To those who always have such determined thoughts, to the stars of success, to those who are always seated on the heart throne, to those who always remain absorbed in remembrance and service, the images of support for the new creation, to those who give the world new light and new life for all time, to those who give everyone an experience of true love, to the loving and co-operative children who are constant companions, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Blessing: May you have a divine life and give the experience of divinity through your every act.
BapDada has made each of you children one with a divine life, that is, divine images who have divine thoughts, speak divine words and perform divine acts. Divinity is the elevated decoration of the confluence-aged Brahmins. With his own acts a soul with a divine life will be able to make any soul experience divinity, to go beyond being ordinary. A Brahmin with a divine life cannot perform ordinary acts through the body or have ordinary thoughts in the mind. Such a soul cannot use his wealth in an ordinary way for any task.
Slogan: Constantly sing the song in your heart, “I have attained what I wanted to attain”, and your face will remain happy.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 7 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 October 2018

To Read Murli 6 October 2018 :- Click Here
07-10-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 22-01-84 मधुबन

नामीग्रामी सेवाधारी बनने की विधि

आज बापदादा अपने एक टिक जगते हुए दीपकों की दीपमाला को देख रहे हैं। कैसे हर एक जगा हुआ दीपक अचल निर्विघ्न, अपनी ज्योति से विश्व को रोशनी दे रहे हैं। यह दीपकों की रोशनी आत्मा को जगाने की रोशनी है। विश्व की सर्व आत्माओं के आगे जो अज्ञान का आवरण है, उसको मिटाने के लिए कैसे जागकर और जगा रहे हैं, अंधकार के कारण अनेक प्रकार की ठोकरें खाने वाले आप जगे हुए दीपकों की तरफ बड़े प्यार से रोशनी की इच्छा से, आवश्यकता से, आप दीपकों की तरफ देख रहे हैं। ऐसे अंधकार में भटकने वाली आत्माओं को ज्ञान की रोशनी दो, जो घर-घर में दीपक जग जायें। (बत्ती चली गई) अभी भी देखो अंधकार अच्छा लगा? रोशनी प्रिय लगती है ना। तो ऐसे बाप से कनेक्शन जुड़ाओ। कनेक्शन जोड़ने का ज्ञान दो।

सभी डबल विदेशी रिफ्रेश हो अर्थात् शक्तिशाली बन, लाइट हाउस, माइट हाउस बन नॉलेजफुल बन पावरफुल बन, सक्सेसफुल बन करके सेवास्थानों पर जा रहे हो फिर से आने के लिए। जाना अर्थात् सफलता स्वरूप का पार्ट बजाकर एक से अनेक हो करके आना। जाते हो अन्य अपने परिवार की आत्माओं को बाप के घर में ले आने के लिए। जैसे हद की लड़ाई करने वाले योद्धे बाहुबल, साइन्स बल वाले योद्धे सर्व शस्त्रों से सजकर युद्ध के मैदान पर जाते हैं, विजय का मैडल लेने के लिए। ऐसे आप सभी रूहानी योद्धे सेवा के मैदान पर जा रहे हो विजय का झण्डा लहराने के लिए। जितना-जितना विजयी बनते हो उतना बाप द्वारा स्नेह, सहयोग, समीपता, सम्पूर्णता के विजयी मैडल्स प्राप्त करते हो। तो यह चेक करो कि अब तक कितने मैडल्स मिले हैं? जो विशेषताऍ हैं वा टाइटल्स देते हैं वह कितने मैडल्स धारण किये हैं। विशेष टाइटल्स की लिस्ट निकाली है ना, वह लिस्ट सामने रखकर स्वयं को देखना कि यह सब मैडल्स हमें प्राप्त हैं? अभी तो यह बहुत थोड़े निकाले हैं। कम से कम 108 तो होने चाहिए। और अपने इतने मैडल्स को देख नशे में रहो। कितने मैडल्स से सजे हुए हो। जाना अर्थात् विशेषता का कार्य कर सदा नये ते नये मैडल्स लेते जाना। जैसा कार्य वैसा मैडल मिलता है। तो इस वर्ष हर एक सेवा के निमित्त बने हुए बच्चों को यह लक्ष्य रखना है कि कोई न कोई ऐसा नवीनता का विशेष कार्य करें जो अब तक ड्रामा में छिपा हुआ, नूँधा हुआ है। उस कार्य को प्रत्यक्ष करें। जैसे लौकिक कार्य में कोई विशेषता का कार्य करते हैं तो नामीग्रामी बन जाते हैं। चारों ओर विशेषता के साथ विशेष आत्मा का नाम हो जाता है। ऐसे हरेक समझे कि मुझे विशेष कार्य करना है। विजय का मैडल लेना है। ब्राह्मण परिवार के बीच विशेष सेवाधारियों की लिस्ट में नामीग्रामी बनना है। रूहानी नशे में रहना है। नाम के नशे में नहीं। रूहानी सेवा के नशे में निमित्त और निर्माण के सर्टीफिकेट सहित नामीग्रामी होना है।

आज डबल विदेशी ग्रुप का विजयी बन विजय स्थल पर जाने का बधाई समारोह है। कोई भी विजय स्थल पर जाते हैं तो बड़ी धूमधाम से खुशी के बाजे गाजे से विजय का तिलक लगाकर बधाई मनाई जाती है। विदाई नहीं, बधाई क्योंकि बापदादा और परिवार जानते हैं कि ऐसे सेवाधारियों की विजय निश्चित है इसलिए बधाई का समारोह मनाते हैं। विजय हुई पड़ी है ना। सिर्फ निमित्त बन रिपीट करना है क्योंकि करने से निमित्त बन करेंगे और पायेंगे! जो निमित्त कर्म है और निश्चित प्रत्यक्ष फल है! इस निश्चय के उमंग-उत्साह से जा रहे हो औरों को अधिकारी बनाकर ले आने के लिए। अधिकार का अखुट खजाना महादानी बन दान पुण्य करने के लिए जा रहे हो। अब देखेंगे पाण्डव आगे जाते हैं वा शक्तियाँ आगे जाती हैं। विशेष नया कार्य कौन करते हैं, उसका मैडल मिलेगा। चाहे कोई ऐसी विशेष सेवा के निमित्त आत्माओं को निकालो। चाहे सेवा के स्थान और वृद्धि को प्राप्त कराओ। चाहे चारों ओर नाम फैलने का कोई विशेष कार्य करके दिखाओ। चाहे ऐसा बड़ा ग्रुप तैयार कर बापदादा के सामने लाओ। किसी भी प्रकार की विशेष सेवा करने वाले को विजय का मैडल मिलेगा। ऐसे विशेष कार्य करने वाले को सब सहयोग भी मिल जाता है। स्वयं ही कोई टिकेट भी आफर कर लेंगे। शुरू-शुरू में जब आप सभी सेवा पर निकले थे तो सेवा कर फर्स्टक्लास में सफर करते थे। और अभी टिकेट भी लेते और सेकण्ड थर्ड में आते। ऐसी कोई कम्पनी की सेवा करो, सब हो जायेगा। सेवाधारी को साधन भी मिल जाता है। समझा! सभी सन्तुष्ट होकर विजयी बनकर जा रहे हैं ना। किसी भी प्रकार की कमजोरी अपने साथ तो नहीं ले जा रहे हो। कमजोरियों को स्वाहा कर शक्तिशाली आत्मायें बनकर जा रहे हो ना! कोई कमज़ोरी रह तो नहीं गई! अगर कुछ रह गया हो जो स्पेशल समय लेकर समाप्ति करके जाना। अच्छा!

ऐसे सदा अचल, जगे हुए दीपक सदा ज्ञान रोशनी द्वारा अंधकार को मिटाने वाले, हर समय सेवा की विशेषता में विशेष पार्ट बजाने वाले, बाप द्वारा सर्व प्राप्त हुए मैडल्स को धारण करने वाले, सदा विजय निश्चित के निश्चय में रहने वाले, ऐसे अविनाशी विजय के तिलकधारी, सदा सर्व प्राप्तियों से सम्पन्न, सन्तुष्ट आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते!

जगदीश भाई से – बापदादा के साकार पालना के पले हुए रत्नों की वैल्यु होती है। जैसे लौकिक रीति में भी पेड़ (वृक्ष) में पके हुए फल कितने शोभनिक होते हैं। ऐसे आप अनुभवी आत्माओं को सभी कितना प्यार से देखते हैं। पहले मिलन में ही वरदान पा लिया ना। पालना अर्थात् वृद्धि ही वरदानों से हुई ना इसलिए सदा पालना के अनुभव से अनेक आत्माओं की पालना करते उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते रहेंगे। सागर के भिन्न-भिन्न सम्बन्ध की लहरों में, अनुभवों की लहरों में लहराते रहेंगे। सेवा के आदि में एकॉनामी के समय निमित्त बने। एकॉनामी के समय निमित्त बनने के कारण सेवा का फल सदा श्रेष्ठ है। समय प्रमाण सहयोगी बने इसलिए वरदान मिला। अच्छा –

कानफ्रेन्स के प्रति – सभी मिलकर जब कोई एक उमंग-उत्साह से कार्य करते हैं तो उसमें सफलता सहज होती है। सभी के उमंग से कार्य हो रहा है ना तो सफलता अवश्य होगी। सभी को मिलाना यह भी एक श्रेष्ठता की निशानी है। सभी के मिलने से अन्य आत्मायें भी मिलन मनाने के समीप आती हैं। दिल का संकल्प मिलाना अर्थात् अनेक आत्माओं का मिलन मनाना। इसी लक्ष्य को देखते हुए कर रहे हो और करते रहेंगे। अच्छा – फारेनर्स सब ठीक हैं? सन्तुष्ट हैं? अभी सब बड़े हो गये हैं। सम्भालने वाले हैं। पहले छोटे-छोटे थे तो नाज़-नखरे करते थे, अभी औरों को सम्भालने वाले बन गये। हमें कोई सम्भाले, यह नहीं। अभी मेहनत लेने वाले नहीं, मेहनत देने वाले। कम्पलेन्ट करने वाले नहीं, कम्पलीट । कोई भी कम्पलेन्ट अभी भी नहीं, फिर पीछे भी नहीं, ऐसा है ना! सदा खुशखबरी के समाचार देना। और जो नहीं भी आये हैं उन्हों को भी मायाजीत बनाना। फिर ज्यादा पत्र नहीं लिखने पड़ेंगे। बस सिर्फ ओ.के.। अच्छी-अच्छी बातें भले लिखो लेकिन शार्ट में। अच्छा।

टीचर्स से:- बापदादा का टीचर्स से विशेष प्यार है क्योंकि समान हैं। बाप भी टीचर और आप मास्टर टीचर। वैसे भी समान प्यारे लगते हैं। बहुत अच्छा उमंग-उत्साह से सेवा में आगे बढ़ रही हो। सभी चक्रवर्ती हो। चक्र लगाते अनेक आत्माओं के सम्बन्ध में आए, अनेक आत्माओं को समीप लाने का कार्य कर रही हो। बापदादा खुश हैं। ऐसे लगता है ना कि बापदादा हमारे पर खुश हैं, या समझती हो कि अभी थोड़ा सा और खुश करना है। खुश हैं और भी खुश करना है। मेहनत अच्छी करती हो, मेहनत मुहब्बत से करती हो इसलिए मेहनत नहीं लगती। बापदादा सर्विसएबुल बच्चों को सदा ही सिर का ताज कहते हैं। सिरताज हो। बापदादा बच्चों के उमंग-उत्साह को देख और आगे उमंग-उत्साह बढ़ाने का सहयोग देते हैं। एक कदम बच्चों का, पदम कदम बाप के। जहाँ हिम्मत है वहाँ उल्लास की प्राप्ति स्वत: होती है। हिम्मत है तो बाप की मदद है, इसलिए बेपरवाह बादशाह हो, सेवा करते चलो। सफलता मिलती रहेगी। अच्छा –

07-10-18 प्रात:मुरली ओम् शान्ति ”अव्यक्त-बापदादा” रिवाइज 13-02-84 मधुबन

”अशान्ति का कारण अप्राप्ति और अप्राप्ति का कारण अपवित्रता है”

(कान्फ्रेन्स के पश्चात मेहमानों के साथ अव्यक्त बापदादा की मुलाकात)

आज प्रेम के सागर, शान्ति के सागर बाप अपने शान्त प्रिय, प्रेम स्वरूप बच्चों से मिलने आये हैं। बापदादा सारे विश्व के आत्माओं की एक ही आश शान्ति और सच्चे प्यार को देख सर्व बच्चों की यह आश पूर्ण करने के लिए सहज विधि बताने बच्चों के पास पहुँच गये हैं। बहुत समय से भिन्न-भिन्न रूपों से इसी आश को पूर्ण करने के लिए बच्चों ने जो प्रयत्न किये वह देख-देख रहमदिल बाप को, बच्चों पर रहम आता है, दाता के बच्चे और मांग रहे हैं एक घड़ी के लिए, थोड़े समय के लिए शान्ति दे दो। अधिकारी बच्चे भिखारी बन शान्ति और स्नेह के लिए भटक रहे हैं। भटकते-भटकते कई बच्चे दिलशिकस्त बन गये हैं। प्रश्न उठता है कि क्या अविनाशी शान्ति विश्व में हो सकती है? सर्व आत्माओं में नि:स्वार्थ सच्चा स्नेह हो सकता है?

बच्चों के इसी प्रश्न का उत्तर देने के लिए बाप को स्वयं आना ही पड़ा। बापदादा बच्चों को यही खुशखबरी बताने के लिए आये हैं कि तुम ही मेरे बच्चे कल शान्ति और सुखमय दुनिया के मालिक थे। सर्व आत्मायें सच्चे स्नेह के सूत्र में बंधी हुई थी। शान्ति और प्रेम तो आपके जीवन की विशेषता थी। प्यार का संसार, सुख का संसार, जीवन मुक्त संसार जिसकी अभी आश रखते हो, सोचते हो कि ऐसा होना चाहिए, उसी संसार के कल मालिक थे। आज वह संसार बना रहे हो और कल फिर उसी संसार में होंगे। कल की ही तो बात है। यही आपकी भूमि कल स्वर्ग भूमि होगी, क्या भूल गये हो? अपना राज्य, सुख सम्पन्न राज्य जहाँ दु:ख अशान्ति का नाम निशान नहीं, अप्राप्ति नहीं। अप्राप्ति ही अशान्ति का कारण है और अप्राप्ति का कारण है अपवित्रता। तो जहाँ अपवित्रता नहीं, अप्राप्ति नहीं वहाँ क्या होगा? जो इच्छा है, जो प्लैन सोचते हो वह प्रैक्टिकल में होगा। वह ड्रामा की भावी अटल अचल है, इसको कोई बदल नहीं सकता। बनी बनाई बनी हुई है। बाप द्वारा नई रचना हो ही गई है। आप सब कौन हो? नई रचना के फाउन्डेशन स्टोन आप हो। अपने को ऐसे फाउन्डेशन स्टोन समझते हो तब तो यहाँ आये हो ना! ब्राह्मण आत्मा अर्थात् नई दुनिया के आधार मूर्त। बापदादा ऐसे आधार मूर्त बच्चों को देख हर्षित होते हैं। बापदादा भी गीत गाते हैं वाह मेरे लाडले सिकीलधे मीठे-मीठे बच्चे! आप भी गीत गाते हो ना। आप कहते हो तुम ही मेरे और बाप भी कहते तुम ही मेरे। बचपन में यह गीत बहुत गाते थे ना। (दो तीन बहनों ने वह गीत गाया और बापदादा रिटर्न में रेसपान्ड दे रहे थे।)

बापदादा तो दिल का आवाज सुनते हैं। मुख का आवाज भले कैसा भी हो। बाप ने गीत बनाया और बच्चों ने गाया। अच्छा। (कुछ भाई बहनें नीचे हाल में तथा ओम् शान्ति भवन में मुरली सुन रहे हैं, बापदादा सम्मेलन में आये हुए मेहमानों से मेडीटेशन हाल में मिल रहे हैं) नीचे भी बहुत बच्चे बैठे हुए हैं। स्नेह की सूरतें और मीठे-मीठे उल्हनें बापदादा सुन रहे हैं। सभी बच्चों ने दिल वा जान सिक वा प्रेम से विश्व सेवा का पार्ट बजाया। बापदादा सभी की लगन पर सभी को स्नेह के झूले में झुलाते हुए मुबारक दे रहे हैं। जीते रहो, बढ़ते रहो, उड़ते रहो, सदा सफल रहो। सभी के स्नेह के सहयोग ने विश्व के कार्य को सफल किया। अगर एक-एक बच्चे की मुहब्बत भरी मेहनत को देखें तो बापदादा दिन-रात वर्णन करते रहें तो भी कम हो जायेगा। जैसे बाप की महिमा अपरम-अपार है ऐसे बाप के सेवाधारी बच्चों की महिमा भी अपरम-अपार है। एक लगन, एक उमंग एक दृढ़ संकल्प कि हमें विश्व की सर्व आत्माओं को शान्ति का सन्देश जरूर देना ही है। इसी लगन के प्रत्यक्ष स्वरूप में सफलता है और सदा ही रहेगी। दूर वाले भी समीप ही हैं। नीचे नहीं बैठे हैं लेकिन बापदादा के नयनों पर हैं। कोई ट्रेन में, कोई बस में जा रहे हैं लेकिन सभी बाप को याद हैं। उन्हों के मन का संकल्प भी बापदादा के पास पहुँच रहा है। अच्छा।

बाप के घर में मेहमान नहीं लेकिन महान आत्मा बनने वाले आये हैं। बापदादा तो सभी को आई.पी. या वी.आई.पी. नहीं देखते लेकिन सिकीलधे बच्चे देखते हैं। वी.आई.पी. तो आयेंगे और थोड़ा समय देख, सुनकर चले जायेंगे। लेकिन बच्चे सदा दिल पर रहते हैं। चाहे कहीं भी जायेंगे लेकिन रहेंगे दिल पर। अपने वा बाप के घर में पहुँचने की मुबारक हो। बापदादा सभी बच्चों को मधुबन का अर्थात् अपने घर का श्रृंगार समझते हैं। बच्चे घर का श्रृंगार हैं। आप सभी कौन हो? श्रृंगार हो ना। अच्छा।

ऐसे सदा दृढ़ संकल्पधारी, सफलता के सितारे, सदा दिलतख्तनशीन, सदा याद और सेवा की लगन में मगन रहने वाले, नई रचना के आधार मूर्त, विश्व को सदा के लिए नई रोशनी नई जीवन देने वाले, सर्व को सच्चे स्नेह का अनुभव कराने वाले, स्नेही सहयोगी, निरन्तर साथी बच्चों को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

वरदान:- अपने हर कर्म द्वारा दिव्यता की अनुभूति कराने वाले दिव्य जीवनधारी भव 
बापदादा ने हर एक बच्चे को दिव्य जीवन अर्थात् दिव्य संकल्प, दिव्य बोल, दिव्य कर्म करने वाली दिव्य मूर्तियां बनाया है। दिव्यता संगमयुगी ब्राह्मणों का श्रेष्ठ श्रृंगार है। दिव्य-जीवनधारी आत्मा किसी भी आत्मा को अपने हर कर्म द्वारा साधारणता से परे दिव्यता की अनुभूतियां करायेगी। दिव्य जन्मधारी ब्राह्मण तन से साधारण कर्म और मन से साधारण संकल्प कर नहीं सकते। वे धन को भी साधारण रीति से कार्य में नहीं लगा सकते।
स्लोगन:- दिल से सदा यही गाते रहो कि पाना था सो पा लिया…तो चेहरा खुशनुम: रहेगा।
Font Resize