7 june ki murli

TODAY MURLI 7 JUNE 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 7 June 2020

07/06/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
20/01/86

The year of the goldenchance for effort and transformation.

Today, the Powerful Father is seeing His powerful children, the powerful souls who have the determined thought to carry out the biggest, most powerful task of making the world new and elevated. You have the thought of carrying out the powerful task of making every soul peaceful and happy. By having this elevated thought, your intellects have the determination to carry out this task in a practical way. All the powerful children have just the one elevated thought that this elevated task has to take place. Even more than that, it is guaranteed that this task is already accomplished. It is just that you are carrying out the task as instruments, according to the philosophy of karma and its fruit, through your effort and the reward, and through being instruments with humility. The destiny is fixed. However, it is just that through your elevated feelings, you have become instruments to receive the imperishable fruit of those feelings. Souls of the world who don’t have knowledge are wondering: Will there be peace? What will happen? How will it happen? They cannot see any hope. They ask, “Will this really happen?” and you say: Yes! Not only will it happen, it has already happened because it isn’t anything new. It has happened many times, and it is even now already accomplished. Those whose intellects have faith know the destiny that is guaranteed. Why do you have such unshakeable faith? Because of the practical proof of your self-transformation; you know that where you have practical proof, there is no need for any other proof. Besides, God’s task is always guaranteed to be successful. This is not a task for human souls, great souls (Mahatmas) and religious souls (Dharamatma). You are carefree souls whose intellects have such faith. You know that the future is guaranteed, that God’s task is already successfully accomplished. People speak about destruction and are afraid that it is going to happen and you are carefree because the new world will be established. There is such a big difference between the impossible and the possible. The golden sun of the golden world is always above and in front of you whereas they have the dark clouds of destruction in front of them. Because that time is coming close, all of you are wearing ankle bells and continually dancing in happiness, for today it’s the old world and tomorrow it will be the golden world. Today and tomorrow have become so close.

Now, this year, you have to experience the year of becoming “perfect and equal”. Perfection is invoking all of you angels with the rosary of victory. You are going to become those who have a right to the rosary of victory, are you not? Both the perfect Father and the perfect stage are calling out to you children: Come, elevated souls, come! Equal children, come! Powerful children, come! Become equal and rest in your sweet home. Just as BapDada is the Bestower of Fortune and the Bestower of Blessings, this year, you too have to become bestowers of fortune and bestowers of blessings for Brahmin souls especially and for all other souls too. Tomorrow, you will become deities, but you must now become the final, angelic form. What do angels do? They become bestowers of blessings and give blessings. Deities (devta) constantly give, they don’t take. They are not called “levta” (those who take). So, you are bestowers of blessings and bestowers of fortune, angels who are to become deities. Now especially become embodiments of the awareness of this great mantra “We are angels who will become deities.” You have already become “Manmanabhav”. That was the mantra of the beginning. Now, put this powerful mantra into your experience. “I should have this, I should receive this!” Both of those things make you into “levta” (those who take). The sanskars of taking make you take a long time to become devta (deities, bestowers). Therefore, now finish those sanskars. In your first birth, you will come as number one deities from the home with Brahma into the new life and the new age. That will also be the period “1-1-1”. The elements will also be number one satopradhan. The kingdom too will be number one. Your golden stage will also be number one. If there is the difference of even one day, it won’t be “1.1.1”. In order to become deities from angels, enable those sanskars to emerge in your actions over a long period of time because the long period of time has been remembered, and the end of that long period of time is now coming. Do not calculate a date for that.

Destruction is said to be the final moments. At that time, the chance of “over a long period of time” will have already finished. However, even the chance of “over a short time” will finish. This is why BapDada is giving the signal of the end of the long period of time. Then, the chance of the account of a long period of time will end and it will be said to be effort over a short period and the reward over a short period. In the account of karma, the account of a long period of time is coming to an end and the account of a short time or a temporary time is beginning. Therefore, this year is the year for transformation. From there being a long period of time, there has to be transformation in a short period of time. So, in the efforts you make this year, you have to accumulate as much as you want in the account of a long period of time. Do not complain later that you were moving along with carelessness and that, if not today, you will change tomorrow. Therefore, become those who know the philosophy of karma. Become knowledge-full and move forward at a fast speed. Do not continue to calculate in terms of the year 2000. Calculation of the time for efforts is separate from the calculation for the time for world transformation. Do not think that there are 15 years still left, or 18 years left, that it will happen in ‘99. Do not continue to think in this way. Understand the calculation. Know the account of your efforts and the reward of them and move forward at that speed. Otherwise, if the old sanskars of a long time still remain, then this calculation of a long period of time will be accumulated in the account of the land of Dharamraj. Even now, some still have an account of wasteful and wrong acts and sinful acts over a long period. BapDada knows those but He is not letting them out (revealing them). He is leaving them behind the curtain for a little while. Nevertheless, there is a lot in the account of wasteful and wrong (inaccurate) activity. Therefore, this year you have an extra golden chance. Just as there is the most auspicious confluence age, so too, this is the year for the golden chance of efforts and reward. Therefore, do not waste this year of the special blessing of courage and help as if it were just an ordinary 50 years. Even now, the Father, as the Ocean of Love, and with the love of all relationships, is seeing and hearing but not seeing and not hearing about the carelessness and ordinary efforts of the children, and is making them move forward by giving them extra marks with extra help out of love for them. He is giving you a lift, but the time is now changing. Therefore, now understand the philosophy of karma very well and benefit from this time. You were told that the 18th chapter has begun. The speciality of the 18th chapter is of becoming an embodiment of remembrance: not that you have awareness one moment and you forget the next. To be an embodiment of remembrance means that you have that awareness over a long period of time, naturally and easily. Now finish the sanskars of battling, the sanskars of labouring and the sanskars of confusion in your mind. Otherwise, those sanskars will become yours for a long time and become instrumental in making you attain the future status according to those final moments. You were told that the time for making effort over a long period is now coming to an end and that the account of weaknesses over a long period is now beginning. Have you now understood this? This is why this is the special time for transformation. Baba is at present the Bestower of Blessings, but He will then become the One who takes your account. At present, there is just the account of love. So, what do you have to do? Become an embodiment of remembrance. Becoming an embodiment of remembrance will automatically make you a destroyer of attachment. The list of attachments has now become very long. One is the household of the self, the others are the household of the divine family, the household of service and the household of limited attainments. Become a destroyer of attachment to all of those, that is, become detached and loving. The consciousness of “I” means attachment, so become a destroyer of attachment for that too. You will only claim a right to the reward of a long period of time by making effort over a long period of time. A long period of time means to receive the fruit or reward from the beginning to the end. In any case, you know very well the significance of becoming free from each and every type of household and can also give very good lectures on that. However, to become free means to be a destroyer of attachment. Do you understand? You have even more points than BapDada; so, what further points should Baba tell you? You have the points, but now become a point. Achcha.

To those who know the philosophy of attainment by always performing elevated acts, to those who constantly make intense effort over a long period of time, to those with the elevated sanskars of elevated effort, to those who are always the original jewels of the golden age, the original jewels of the confluence age, to the children who are equal to Adi Dev, to those who have the elevated blessing from the original father and the eternal Father of becoming the first ones, love and remembrance together with namaste from the Father, the Server.

BapDada speaking to Dadis:

Who will open the gates of the home? Those who are celebrating the Golden Jubilee or the Silver Jubilee will open the gates with Brahma, will they not? Or, will you come later? If you go with Baba, you will go as a bride, whereas if you go later, you will go as part of the procession. The relatives will also be called part of the procession. They may be close, but it would still be said: The procession has come. So, who will open the gates? Those of the Golden Jubilee or those of the Silver Jubilee? Those who open the gates of the home will open the gates to heaven. No one is forbidden to come to the subtle region now. In the corporeal world, there are still the restrictions of time and circumstances, but there is no restriction in coming to the subtle region. No one will stop you; there is no need to take your turn. By practising this, you will feel that, while here in your body, you will go and tour there and come back in a second. There is the memorial of touring around with the subtle body within, so the soul within becomes a vehicle. You will experience it as though the plane takes off as soon as you press the button, and you just tour around and come back, and others will also feel as though you are here and yet not here. You saw that when the sakar form was speaking to you, Baba was with you one second and then you felt as though he was not there. One moment he was there and the next moment he was not. You experienced that, did you not? You had that experience, did you not? For that, there is a need to pack up all physical expansion. You saw that the final stage of the sakar form, despite there being so much expansion, was that of merging the expansion and remaining beyond. One minute, Baba was giving a direction for something physical and the next moment Baba was giving the experience of the bodiless stage. So, you saw the revelation of the power to pack up. You people also used to ask: Is Baba here or not? Is Baba listening or not? However, the speed was so fast that no task was missed out. Even if you were telling Baba about something, he would not miss that, for the speed was so fast that he could do both tasks in a minute. He would catch the essence and also tour around. He wouldn’t be bodiless in such a way that someone would talk to him and then say that Baba didn’t even listen to him. The speed was fast. The intellect became so broad and unlimited that he did both tasks at the same time. This happens when you use the power to pack up. Now there is expansion of the household. While staying in that, the practice of the angelic stage will grant visions. The effort you have to make at the moment over every little thing automatically seems to be gross when you go up above. As you go up, the things of down below will automatically end. You will be saved from labouring. Time will be saved and service will be done fast. Otherwise, you have to spend so much time. Achcha.

Avyakt BapDada’s sweet message for the brothers and sisters who have come for the Silver Jubilee Golden flowers of love for the spiritual children on the occasion of the Silver Jubilee.

Congratulations for a beautiful elevated life, to the highest on high of the whole world, the great actors of the great age, the children who are the transformers of this age. Congratulations for the special fortune of being instruments for the growth of service. Congratulations for being loving and co-operative to God from the beginning and for becoming samplesfrom the beginning. Congratulations for considering the storms of the problems of time to be a gift and for always being destroyers of obstacles.

BapDada is always pleased to see His children who are the foundation of service and are full of the treasures of such experiences. He turns the beads of the rosary of the virtues of courage of the children. On such a lucky and lovely occasion, He gives you these special golden blessings: May you always be united and successful in the task of revealing the One! May you remain immortal in your spiritual life! May you be multimillion times fortunate in eating the instant and immortal fruit!

Blessing: May you always be happy and serve many others with the awareness of “Wah drama! Wah!”
While watching any scene of this drama, have the awareness, “Wah drama! Wah!” and you will never be afraid, because you have received the knowledge of the drama and how the present time is the benevolent age – that whatever scene comes in front of you is filled with benefit. Even if the benefit is not visible at the present moment, the merged benefit will be revealed in the future. Then you will remain constantly happy with the awareness, “Wah drama! Wah!” and you will never feel sad about your efforts. Many others will automatically be served through you.
Slogan: The power of silence is the easy way to serve with your mind. Where there is the power of silence, there is contentment.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 JUNE 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 June 2020

Murli Pdf for Print : – 

07-06-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 20-01-86 मधुबन

पुरुषार्थ और परिवर्तन के गोल्डन चांस का वर्ष

आज समर्थ बाप अपने समर्थ बच्चों को देख रहे हैं। जिन समर्थ आत्माओं ने सबसे बड़े ते बड़ा समर्थ कार्य विश्व को नया श्रेष्ठ विश्व बनाने का दृढ़ संकल्प किया है। हर आत्मा को शान्त वा सुखी बनाने का समर्थ कार्य करने का संकल्प किया है और इसी श्रेष्ठ संकल्प को लेकर दृढ़ निश्चय बुद्धि बन कार्य को प्रत्यक्ष रूप में ला रहे हैं। सभी समर्थ बच्चों का एक ही यह श्रेष्ठ संकल्प है कि यह श्रेष्ठ कार्य होना ही है। इससे भी ज्यादा यह निश्चित है कि यह कार्य हुआ ही पड़ा है। सिर्फ कर्म और फल के पुरुषार्थ और प्रालब्ध के निमित्त और निर्माण के कर्म फिलॉसाफी के अनुसार निमित्त बन कार्य कर रहे हैं। भावी अटल है। लेकिन सिर्फ आप श्रेष्ठ भावना द्वारा, भावना का फल अविनाशी प्राप्त करने के निमित्त बने हुए हैं। दुनिया की अन्जान आत्मायें यही सोचती हैं – कि शान्ति होगी, क्या होगा, कैसे होगा! कोई उम्मीद नहीं दिखाई देती। क्या सचमुच होगा! और आप कहते हो, होगा तो क्या लेकिन हुआ ही पड़ा है क्योंकि नई बात नहीं है। अनेक बार हुआ है और अब भी हुआ ही पड़ा है। निश्चयबुद्धि निश्चित भावी को जानते हो। इतना अटल निश्चय क्यों है? क्योंकि स्व परिवर्तन के प्रत्यक्ष प्रमाण से जानते हो कि प्रत्यक्ष प्रमाण के आगे और कोई प्रमाण की आवश्यकता ही नहीं है। साथ-साथ परमात्म कार्य सदा सफल है ही है। यह कार्य आत्माओं, महान आत्माओं वा धर्म आत्माओं का नहीं है। परमात्म कार्य सफल हुआ ही पड़ा है, ऐसे निश्चय बुद्धि, निश्चित भविष्य को जानने वाले निश्चिन्त आत्मायें हो। लोग कहते हैं वा डरते हैं कि विनाश होगा और आप निश्चिन्त हो कि नई स्थापना होगी। कितना अन्तर है – असम्भव और सम्भव का। आपके सामने सदा स्वर्णिम दुनिया का, स्वर्णिम सूर्य उदय हुआ ही पड़ा है और उन्हों के सामने हैं विनाश की काली घटायें। अभी आप सभी तो समय समीप होने के कारण सदा खुशी के घुंघरू डाल नाचते रहते हो कि आज पुरानी दुनिया है, कल स्वर्णिम दुनिया होगी। आज और कल इतना समीप पहुँच गये हो।

अभी इस वर्ष ‘सम्पूर्णता और समानता” का समीप अनुभव करना है। सम्पूर्णता आप सभी फरिश्तों का विजय माला ले आवाह्न कर रही है। विजय माला के अधिकारी तो बनना है ना। सम्पूर्ण बाप और सम्पूर्ण स्टेज दोनों ही आप बच्चों को बुला रहे हैं कि आओ श्रेष्ठ आत्मायें आओ, समान बच्चे आओ, समर्थ बच्चे आओ, समान बन अपने स्वीट होम में विश्रामी बनो। जैसे बापदादा विधाता है, वरदाता है ऐसे आप भी इस वर्ष विशेष ब्राह्मण आत्माओं प्रति वा सर्व आत्माओं प्रति विधाता बनो, वरदाता बनो। कल देवता बनने वाले हो अब अन्तिम फरिश्ता स्वरूप बनो। फरिश्ता क्या करता? वरदाता बन वरदान देता है। देवता सदा देता है, लेता नहीं है। लेवता नहीं कहते। तो वरदाता और विधाता, फरिश्ता सो देवता … अभी यह महामंत्र हम फरिश्ता सो देवता, इस मंत्र को विशेष स्मृति स्वरूप बनाओ। मनमनाभव तो हो ही गये, यह आदि का मंत्र रहा। अभी इस समर्थ मंत्र को अनुभव में लाओ। “यह होना चाहिए, यह मिलना चाहिए” यह दोनों ही बातें लेवता बनाती हैं, लेवता-पन के संस्कार देवता बनने में समय डाल देंगे, इसलिए इन संस्कारों को समाप्त करो। पहले जन्म में ब्रह्मा के घर से देवता बन नये जीवन, नये युग के वन नम्बर में आओ। संवत भी वन-वन-वन हो। प्रकृति भी सतोप्रधान नम्बरवन हो। राज्य भी नम्बरवन हो। आपकी गोल्डन स्टेज भी नम्बर वन हो। एक दिन के फर्क में भी वन-वन-वन से बदल जायेगा। अभी से फरिश्ता सो देवता बनने के लिए बहुतकाल के संस्कार प्रैक्टिकल कर्म में इमर्ज करो क्योंकि बहुतकाल का जो गायन है, वह बहुत-काल की सीमा अब समाप्त हो रही है। उसकी डेट नहीं गिनती करो।

विनाश को अन्तकाल कहा जायेगा, उस समय बहुतकाल का चांस तो समाप्त है ही, लेकिन थोड़े समय का भी चांस समाप्त हो जायेगा इसलिए बापदादा बहुतकाल की समाप्ति का इशारा दे रहे हैं। फिर बहुतकाल की गिनती का चांस समाप्त हो थोड़ा समय पुरूषार्थ, थोड़ा समय प्रालब्ध, यही कहा जायेगा। कर्मों के खाते में अब बहुतकाल खत्म हो थोड़ा समय वा अल्पकाल आरम्भ हो रहा है इसलिए यह वर्ष परिवर्तन काल का वर्ष है। बहुतकाल से थोड़े समय में परिवर्तन होना है, इसलिए इस वर्ष के पुरुषार्थ में बहुतकाल का हिसाब जितना जमा करने चाहो वह कर लो। फिर उल्हना नहीं देना कि हम तो अलबेले होकर चल रहे थे। आज नहीं तो कल बदल ही जायेंगे इसलिए कर्मों की गति को जानने वाले बनो। नॉलेजफुल बन तीव्रगति से आगे बढ़ो। ऐसा न हो दो हजार का हिसाब ही लगाते रहो। पुरुषार्थ का हिसाब अलग है और सृष्टि परिवर्तन का हिसाब अलग है। ऐसा नहीं सोचो- कि अभी 15 वर्ष पड़ा है, अभी 18 वर्ष पड़ा है। 99 में होगा… यह नहीं सोचते रहना। हिसाब को समझो। अपने पुरुषार्थ और प्रालब्ध के हिसाब को जान उस गति से आगे बढ़ो। नहीं तो बहुतकाल के पुराने संस्कार अगर रह गये तो इस बहुतकाल की गिनती धर्मराजपुरी के खाते में जमा हो जायेगी। कोई-कोई का बहुतकाल के व्यर्थ, अयथार्थ कर्म-विकर्म का खाता अभी भी है, बापदादा जानते हैं सिर्फ आउट नहीं करते हैं। थोड़ा-सा पर्दा डालते हैं। लेकिन व्यर्थ और अयथार्थ, यह खाता अभी भी बहुत है इसलिए यह वर्ष एकस्ट्रा गोल्डन चांस का वर्ष है – जैसे पुरुषोत्तम युग है वैसे यह पुरुषार्थ और परिवर्तन के गोल्डन चांस का वर्ष है इसलिए विशेष हिम्मत और मदद के इस विशेष वरदान के वर्ष को साधारण 50 वर्ष के समान नहीं गंवाना। अभी तक बाप स्नेह के सागर बन सर्व सम्बन्ध के स्नेह में, अलबेलापन, साधारण पुरुषार्थ इसको देखते-सुनते भी न सुन, न देख बच्चों को स्नेह की एकस्ट्रा मदद से, एकस्ट्रा मार्क्स देकर बढ़ा रहे हैं। लिफ्ट दे रहे हैं। लेकिन अभी समय परिवर्तन हो रहा है इसलिए अभी कर्मों की गति को अच्छी तरह से समझ समय का लाभ लो। सुनाया था ना – कि 18 वाँ अध्याय आरम्भ हो गया है। 18 अध्याय की विशेषता – अब स्मृति स्वरूप बनो। अभी स्मृति, अभी विस्मृति नहीं। स्मृति स्वरूप अर्थात् बहुतकाल स्मृति स्वत: और सहज रहे। अभी युद्ध के संस्कार, मेहनत के संस्कार, मन को मुँझाने के संस्कार इसकी समाप्ति करो। नहीं तो यही बहुतकाल के संस्कार बन अन्त मति सो भविष्य गति प्राप्त कराने के निमित्त बन जायेंगे। सुनाया ना – अभी बहुतकाल के पुरुषार्थ का समय समाप्त हो रहा है और बहुतकाल की कमजोरी का हिसाब शुरू हो रहा है। समझ में आया! इसलिए यह विशेष परिवर्तन का समय है। अभी वरदाता है फिर हिसाब-किताब करने वाले बन जायेंगे। अभी सिर्फ स्नेह का हिसाब है। तो क्या करना है! स्मृति स्वरूप बनो। स्मृति स्वरूप स्वत: ही नष्टोमोहा बना ही देगा। अभी तो मोह की लिस्ट बड़ी लम्बी हो गई है। एक स्व की प्रवृत्ति, एक दैवी परिवार की प्रवृत्ति, सेवा की प्रवृत्ति, हद के प्राप्तियों की प्रवृत्ति – इन सभी से नष्टोमोहा अर्थात् न्यारा बन प्यारा बनो। मैं-पन अर्थात् मोह, इससे नष्टोमोहा बनो तब बहुतकाल के पुरूषार्थ से बहुतकाल के प्रालब्ध की प्राप्ति के अधिकारी बनेंगे। बहुतकाल अर्थात् आदि से अन्त तक की प्रालब्ध का फल। वैसे तो एक-एक प्रवृत्ति से निवृत होने का राज़ भी अच्छी तरह से जानते हो और भाषण भी अच्छा कर सकते हो। लेकिन निवृत होना अर्थात् नष्टोमोहा होना। समझा! प्वाइंटस तो आपके पास बाप-दादा से भी ज्यादा हैं इसलिए प्वाइंट्स क्या सुनायें, प्वाइंट्स तो हैं अब प्वाइन्ट बनो। अच्छा!

सदा श्रेष्ठ कर्मों के प्राप्ति की गति को जानने वाले, सदा बहुतकाल के तीव्र पुरुषार्थ के, श्रेष्ठ पुरुषार्थ के श्रेष्ठ संस्कार वाले, सदा स्वर्णिम युग के आदि रत्न, संगमयुग के भी आदि रत्न, स्वर्णिम युग के भी आदि रत्न, ऐसे आदि देव के समान बच्चों को, आदि बाप, अनादि बाप की सदा आदि बनने की श्रेष्ठ वरदानी यादप्यार और साथ-साथ सेवाधारी बाप की नमस्ते।

दादियों से – घर का गेट कौन खोलेगा? गोल्डन जुबली वाले वा सिल्वर जुबली वाले, ब्रह्मा के साथ गेट तो खोलेंगे ना। या पीछे आयेंगे? साथ जायेंगे तो सजनी बनकर जायेंगे और पीछे जायेंगे तो बराती बनकर जायेंगे। सम्बन्धी भी तो बराती कहे जायेंगे। नजदीक तो हैं लेकिन कहा जायेगा – बरात आई है। तो कौन गेट खोलेगा? गोल्डन जुबली वाले वा सिल्वर जुबली वाले? जो घर का गेट खोलेंगे वही स्वर्ग का गेट भी खोलेंगे। अभी वतन में आने की किसको मना नहीं है। साकार में तो फिर भी बन्धन है, समय का सरकमस्टांस का। वतन में आने के लिए तो कोई बन्धन नहीं। कोई नहीं रोकेगा, टर्न लगाने की भी जरूरत नहीं। अभ्यास से ऐसा अनुभव करेंगे, जैसे यहाँ शरीर में होते हुए एक सेकेण्ड में चक्कर लगाकर वापस आ गये। जो अन्त: वाहक शरीर से चक्र लगाने का गायन है, यह अन्तर की आत्मा वाहन बन जाती है। तो ऐसे अनुभव करेंगे जैसे बिल्कुल बटन दबाया, विमान उड़ा, चक्र लगाके आ गये और दूसरे भी अनुभव करेंगे कि यह यहाँ होते हुए भी नहीं है। जैसे साकार में देखा ना-बात करते-करते भी सेकेण्ड में है और अभी नहीं है। अभी-अभी है, अभी-अभी नहीं है। यह अनुभव किया ना। ऐसे अनुभव किया ना। इसमें सिर्फ स्थूल विस्तार को समेटने की आवश्यकता है। जैसे साकार में देखा-इतना विस्तार होते हुए भी अन्तिम स्टेज क्या रही? विस्तार को समेटने की, उपराम रहने की। अभी-अभी स्थूल डारेक्शन दे रहे हैं और अभी-अभी अशरीरी स्थिति का अनुभव करा रहे हैं। तो यह समेटने की शक्ति की प्रत्यक्षता देखी। जो आप लोग भी कहते थे कि बाबा यहाँ है या नहीं हैं। सुन रहे हैं या नहीं सुन रहे हैं। लेकिन वह तीव्रगति ऐसी होती है, जो कार्य मिस नहीं करेंगे। आप बात सुना रहे हो तो बात मिस नहीं करेंगे। लेकिन गति इतनी तीव्र है जो दोनों ही काम एक मिनट में कर सकते है। सार भी कैच कर लेंगे और चक्र भी लगा लेंगे। ऐसे भी अशरीरी नहीं होंगे जो कोई बात कर रहा है आप कहो कि सुना ही नहीं। गति फास्ट हो जाती है। बुद्धि इतनी विशाल हो जाती है जो एक ही समय पर दोनों कार्य करते हैं। यह तब होता जब समेटने की शक्ति यूज़ करो। अभी प्रवृत्ति का विस्तार हो गया है। उसमें रहते हुए यही अभ्यास फरिश्ते पन का साक्षात्कार करायेगा! अभी एक-एक छोटी-छोटी बात के पीछे यह जो मेहनत करनी पड़ती हैं, वह स्वत: ही ऊंचे जाने से यह छोटी बातें व्यक्त भाव की अनुभव होंगी। ऊंचे जाने से नीचा पन अपने आप छूट जायेगा। मेहनत से बच जायेंगे। समय भी बचेगा और सेवा भी फास्ट होगी, नहीं तो कितना समय देना पड़ता है। अच्छा।

सिलवर जुबली में आये हुए भाई बहिनों प्रति अव्यक्त बापदादा का मधुर सन्देश – रजत जयन्ति के शुभ अवसर पर रूहानी बच्चों के प्रति स्नेह के सुनहरे पुष्प

सारे विश्व में ऊंचे से ऊंचे महायुग के महान पार्टधारी युग परिवर्तक बच्चों को श्रेष्ठ सुहावने जीवन की मुबारक हो। सेवा में वृद्धि के निमित्त बनने के विशेष भाग्य की मुबारक हो। आदि से परमात्म स्नेही और सहयोगी बनने की, सैम्पल बनने की मुबारक हो। समय के समस्याओं के तूफान को तोफा समझ सदा विघ्न-विनाशक बनने की मुबारक हो।

बापदादा सदा अपने ऐसे अनुभवों के खजानों से सम्पन्न सेवा के फाउण्डेशन बच्चों को देख हर्षित होते हैं और बच्चों के साहस के गुणों की माला सिमरण करते हैं। ऐसे लकी और लवली अवसर पर विशेष सुनहरे वरदान देते सदा एक बन, एक को प्रत्यक्ष करने के कार्य में सफल भव। रूहानी जीवन में अमर भव। प्रत्यक्ष फल और अमर फल खाने के पद्मा पदम भाग्यवान भव।

वरदान:- वाह ड्रामा वाह की स्मृति से अनेकों की सेवा करने वाले सदा खुशनुम: भव
इस ड्रामा की कोई भी सीन देखते हुए वाह ड्रामा वाह की स्मृति रहे तो कभी भी घबरायेंगे नहीं क्योंकि ड्रामा का ज्ञान मिला कि वर्तमान समय कल्याणकारी युग है, इसमें जो भी दृश्य सामने आता है उसमें कल्याण भरा हुआ है। वर्तमान में कल्याण दिखाई न भी दे लेकिन भविष्य में समाया हुआ कल्याण प्रत्यक्ष हो जायेगा-तो वाह ड्रामा वाह की स्मृति से सदा खुशनुम:रहेंगे, पुरूषार्थ में कभी भी उदासी नहीं आयेगी। स्वत: ही आप द्वारा अनेको की सेवा होती रहेगी।
स्लोगन:- शान्ति की शक्ति ही मन्सा सेवा का सहज साधन है, जहाँ शान्ति की शक्ति है वहाँ सन्तुष्टता है।

TODAY MURLI 7 JUNE 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 June 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 June 2019 :- Click Here

07/06/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to become conquerors of Maya, stop being careless. To cause or take sorrow is a very big mistake which you children should not make.
Question: What one desire does the Father have for you children?
Answer: The Father’s desire is that all His children become everpure like Himself. The Father is everbeautiful and He has come to make you children beautiful from ugly. Maya makes you ugly and the Father makes you beautiful. Lakshmi and Narayan were beautiful and this is why ugly, impure human beings go in front of them (their idols) and sing their praise. They consider themselves to be degraded. You now receive the Father’s shrimat: Sweet children, now make effort to become beautiful and satopradhan.

Om shanti. What is the Father doing and what are you children doing? The Father knows and you children know that you souls have become tamopradhan and that you now have to be made satopradhan, which is called goldenaged. The Father sees you souls. It is the soul that has the thought: I, the soul, have become ugly. Because of souls being ugly, the bodies too have become ugly. You people go to the Lakshmi and Narayan Temple but you previously didn’t have any knowledge at all. You would see that they (the idols of Lakshmi and Narayan) are full of all virtues and beautiful and that you yourselves are ugly, evil spirits, but you didn’t have any knowledge. Now, when you go to the Lakshmi and Narayan Temple, you understand that you were full of all virtues and that you have now become ugly and impure. You used to sing in front of them: We are ugly, vicious sinners. After a couple gets married, they are taken to the Lakshmi and Narayan Temple. Both are at first viceless and then they become vicious. People go in front of the viceless deities and call themselves vicious and impure. They would not say this before they married. It is only after people indulge in vice that they go to a temple and sing praise of the deities. Nowadays, people even have marriage ceremonies in the temples to Shiva and Lakshmi and Narayan. They tie a bracelet in order to become impure. You are now tying a bracelet in order to become beautiful. This is why you remember Shiv Baba who makes you beautiful. You know that Shiv Baba is sitting in the centre of the forehead of this chariot. He is everpure. His one desire is that children also become pure and beautiful. Constantly remember Me alone and become pure. Souls have to remember the Father. The Father is also pleased to see the children. You children understand that you will become pure by looking at the Father and that you will then become like Lakshmi and Narayan. You children have to remember this aim and objective with a lot of caution. Do not think that you have come to Baba and that, when you go back, you can then just become engrossed in your own business. Therefore, the Father personally sits here in front of you children and explains to you. Each soul resides in the centre of a forehead. This is the throne of the immortal soul. Souls who are My children are sitting in their foreheads. Souls themselves are tamopradhan and so their thrones are also tamopradhan. These matters have to be understood very well. To become like Lakshmi and Narayan is not like going to your aunty’s home! You now understand that you are becoming like them. After becoming pure, you souls will go back and you will then be called deities. We are becoming the masters of such a heaven, but Maya is such that she makes you forget. Some listen to knowledge here, but when they go outside they forget it. This is why Baba gets you to make it very firm. Each of you has to examine yourself: Have I imbibed the virtues that these deities have by following shrimat? The picture is in front of you. You know that you have to become like them. Only the Father would make you become like them. No one else can change you from human beings into deities. Only the one Father makes you become like them. It is sung: It didn’t take God long to change human beings into deities. You too know this, numberwise. Devotees do not know these things. They cannot understand anything until they receive God’s shrimat. You children are now receiving shrimat. Keep this in your intellects very well: We are becoming this by remembering Baba according to His shrimat. Only by having remembrance will your sins be burnt away; there is no other way. Lakshmi and Narayan were beautiful, but they have been shown in the temples as ugly. In the Radhunath Temple, they have shown Rama to be ugly. Why? No one knows. This is such a small matter. Rama belongs to the silver age. There is a small difference because there are two degrees less. The Father explains: In the beginning, they were satopradhan and beautiful. Even the subjects were satopradhan, but they became that after experiencing punishment. The more the punishment, the lower the status. If you don’t make effort, your sins are not cut away and your status is reduced. The Father explains everything to you very clearly. You are sitting here in order to become beautiful. However, Maya is the great enemy who has made you ugly. She sees that the Father who makes you beautiful has come and so she causes opposition. The Father says: According to the drama, she has to play her part for half the cycle. Maya repeatedly makes you turn your face away and takes you in another direction. Some write: Baba, Maya causes me a lot of trouble. Baba says: This is a battle. You become ugly from beautiful and beautiful from ugly: this is a play. He explains to those who have taken the full 84 births. They only set foot in Bharat. It isn’t that everyone in Bharat takes 84 births. The present time of you children is most valuable. You have to make full effort to become like them. The Father has definitely said: Simply remember Me alone and also imbibe divine virtues. Don’t cause anyone sorrow. The Father says: Children, do not make such mistakes. Let your intellects be connected in yoga to the one Father. You have promised: I will surrender myself to You. You have been promising this for birth after birth: Baba, when You come, we will only follow Your directions, we will become pure and then become deities. If your spouse doesn’t co-operate with you, you can make your own effort. If your spouse doesn’t come with you, you won’t be a couple there. However much remembrance they have had and however many divine virtues they have imbibed, couples will accordingly be formed. For instance, Brahma and Saraswati have made very good efforts and so they become a couple. They do very good service and stay in remembrance. That too is a virtue. Amongst the gopes (brothers) too, there are many very good children. Some children understand for themselves that they are attracted by Maya. Those chains do not break; they repeatedly trap you in name and form. The Father says: Do not become trapped in name and form. Become trapped in Me. Just as you are incorporeal, so I too am incorporeal. I make you the same as I am. A teacher would make you the same as himself. A surgeon would make you into a surgeon. That One is the unlimited Father and His name is glorified. People call out: O Purifier, come! Souls call out through their bodies: Baba, come and make us pure! You know how He is purifying you. Some diamonds, too, have flaws in them. Alloy is now mixed in souls. That is being removed and souls are being made into real gold. You souls have to become very pure. Your aim and objective is clear. This would never be said in any other spiritual gathering. The Father explains: Your aim is to become this. You also know that, according to the drama, you have been vicious for half the cycle in the company of Ravan. You now have to become this. You also have the badge. It is very easy to explain using that badge: This is the Trimurti. Establishment takes place through Brahma, but Brahma doesn’t do that. He is becoming pure from impure. People don’t know that this impure one then becomes pure. You children now understand that the destination of your study is high. The Father comes to teach you. Baba has knowledge, but He hasn’t studied that with anyone. According to the dramaplan, He has knowledge. You cannot ask: Where did that One receive knowledge from? No; He is knowledge-full. He alone makes you pure from impure. People go to bathe in the Ganges in order to become pure from impure. They also bathe in the ocean. Then, they also carry out worship considering the ocean to be a deity. In fact, rivers flow all the time; they are never destroyed. However, previously they used to be under control; there was no mention of floods etc. People never drowned in them. There, there are few human beings, and then the number of them continues to grow. There are so many human beings by the end of the iron age. There, people’s lifespans are very long. There will be very few human beings. Then, in 2500 years, there is so much expansion; the tree grows so much. First of all, there was just our kingdom in Bharat. You would say that some of you, too, remember that you are establishing your own kingdom. We are spiritual warriors who have the power of yoga. They even forget this. We are those who battle with Maya. This kingdom is now being established. The more you remember the Father, the more victorious you will become. Your aim and objective is to become like them. Baba is making you into deities through this one. So, what should you do? You should remember the Father. This one is the agent in between. It is remembered that when you found the Satguru, it was in the form of an agent. When Baba takes this body, this one is the agent in between. He then enables you to have yoga with Shiv Baba. However, do not mention anything about engagements etc. Shiv Baba is making us souls pure through this one. He says: Children, remember Me, your Father. You would not say: Remember Me, your Father. You would relate the Father’s knowledge: This is what Baba says. The Father also explains this to you very clearly. As you progress further, many of you will have visions and your consciences will continue to bite you. The Father says: Very little time now remains. You will witness destruction with those eyes. When rehearsals take place, you will see that that is how destruction is to take place. You will see a lot with those eyes. Many people will have visions of Paradise. All of this will continue to take place very quickly. On the path of knowledge, everything is real whereas on the path of devotion, everything is imitation. They just have visions, but they do not become that, whereas you do become that. You will see with those eyes whatever you have had visions of. To witness destruction is not like going to your aunty’s home, don’t even ask! People kill others in front of one another. Clapping can only take place with two hands (both sides). They separate two brothers and then get them to fight each other. This is also created in the drama. They don’t understand these secrets. By dividing the two, they make them continue to fight between themselves and this is how they continue to sell them armaments and they earn an income. However, at the end, nothing will happen through that. While sitting at home, they will release bombs and everything will be destroyed. There, there is no need for human beings or weapons. The Father explains: Children, establishment will definitely take place. The more effort you make, the higher the status you will claim. A lot is explained to you. God says: Children, do not use that sword of lust. By conquering lust, you become conquerors of the world. Eventually, the arrow will definitely strike someone. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. This time is most valuable. It is now that you have to make effort and fully surrender yourself to the Father. Imbibe divine virtues. You must not make any type of mistake. Follow the directions of the one Father.
  2. Keep your aim and objective in front of you and continue to move along with great caution. Make effort to make yourself the soul, pure and satopradhan. Check what flaws there are inside you and remove them.
Blessing: May you have the fortune of happiness of Brahmin life and always eat the nourishment of happiness and share happiness with others.
No one in this world can be as fortunate as you Brahmins because all of you receive BapDada’s heart-throne in this life alone. You constantly eat the nourishment of happiness and share happiness. At this time you are carefree emperors. Throughout the whole cycle, at no other time do you have such a carefree life. In the golden age you will be carefree, but you won’t have any knowledge there. At this time, you have knowledge and this is why it emerges in your hearts that no one is as fortunate as you are.
Slogan: Those who have a right to self-sovereignty at the confluence age will claim a right to the kingdom of the world in the future.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 JUNE 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 June 2019

To Read Murli 6 June 2019 :- Click Here
07-06-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – “मायाजीत बनने के लिए ग़फलत करना छोड़ो, दु:ख देना और दु:ख लेना – यह बहुत बड़ी ग़फलत है, जो तुम बच्चों को नहीं करनी चाहिए”
प्रश्नः- बाप की हम सब बच्चों के प्रति कौन-सी एक आश है?
उत्तर:- बाप की आश है कि मेरे सभी बच्चे मेरे समान एवर प्योर बन जायें। बाप एवर गोरा है, वह आया है बच्चों को काले से गोरा बनाने। माया काला बनाती, बाप गोरा बनाते हैं। लक्ष्मी-नारायण गोरे हैं, तब काले पतित मनुष्य जाकर उनकी महिमा गाते हैं, अपने को नीच समझते हैं। बाप की श्रीमत अब मिलती है – मीठे बच्चे, अब गोरा सतोप्रधान बनने का पुरूषार्थ करो।

ओम् शान्ति। बाप क्या कर रहे हैं और बच्चे क्या कर रहे हैं? बाप भी जानते हैं और बच्चे भी जानते हैं कि हमारी आत्मा जो तमोप्रधान बन गई है, उनको सतोप्रधान बनाना है। जिसको गोल्डन एजड कहा जाता है। बाप आत्माओं को देखते हैं। आत्मा को ही ख्याल होता है, हमारी आत्मा काली बन गई है। आत्मा के कारण फिर शरीर भी काला बन गया है। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जाते हैं, आगे तो जरा भी ज्ञान नहीं था। देखते थे यह तो सर्वगुण सम्पन्न हैं, गोरे हैं, हम तो काले भूत हैं। परन्तु ज्ञान नहीं था। अभी तो लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जायेंगे तो समझेंगे हम तो पहले ऐसे सर्वगुण सम्पन्न थे, अभी काले पतित बन गये हैं। उनके आगे कहते हैं हम काले विशश पापी हैं। शादी करते हैं तो पहले लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में ले जाते हैं। दोनों ही पहले निर्विकारी हैं फिर विकारी बनते हैं। तो निर्विकारी देवताओं के आगे जाकर अपने को विकारी पतित कहते हैं। शादी के पहले ऐसे नहीं कहेंगे। विकार में जाने से ही फिर मन्दिर में जाकर उनकी महिमा करते हैं। आजकल तो लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में, शिव के मन्दिर में शादियां होती हैं। पतित बनने के लिए कंगन बांधते हैं। अभी तुम गोरा बनने के लिए कंगन बांधते हो इसलिए गोरा बनाने वाले शिवबाबा को याद करते हो। जानते हो इस रथ के भ्रकुटी के बीच शिवबाबा है, वह एवरप्योर है। उनकी यही आश रहती है कि बच्चे भी प्योर गोरा बन जायें। मामेकम् याद कर प्योर हो जायें। आत्मा को याद करना है बाप को। बाप भी बच्चों को देख-देख हर्षित होते हैं। तुम बच्चे भी बाप को देख-देख समझते हो पवित्र बन जायें। तो फिर हम ऐसे लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। यह एम ऑबजेक्ट बच्चों को बहुत खबरदारी से याद रखनी है। ऐसे नहीं, बस बाबा के पास आये हैं। फिर वहाँ जाने से अपने ही धन्धे आदि में पूरे हो जाओ इसलिए यहाँ सम्मुख बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। भ्रकुटी के बीच आत्मा रहती है। अकाल आत्मा का यह तख्त है, जो आत्मा हमारे बच्चे हैं, वह इस तख्त पर बैठे हैं। खुद आत्मा तमोप्रधान है तो तख्त भी तमोप्रधान है। यह अच्छी रीति समझने की बातें हैं। ऐसा लक्ष्मी-नारायण बनना कोई मासी का घर नहीं है। अभी तुम समझते हो हम इन जैसा बन रहे हैं। आत्मा पवित्र बनकर ही जायेगी। फिर देवी-देवता कहलायेंगे। हम ऐसे स्वर्ग के मालिक बनते हैं। परन्तु माया ऐसी है जो भुला देती है। कई यहाँ से सुनकर बाहर जाते हैं फिर भूल जाते हैं इसलिए बाबा अच्छी रीति पक्का कराते हैं – अपने को देखना है, जितना इन देवताओं में गुण हैं वह हमने धारण किये हैं, श्रीमत पर चलकर? चित्र भी सामने हैं। तुम जानते हो हमको यह बनना है। बाप ही बनायेंगे। दूसरा कोई मनुष्य से देवता बना न सके। एक बाप ही बनाने वाला है। गायन भी है मनुष्य से देवता……..। तुम्हारे में भी नम्बरवार जानते हैं। यह बातें भक्त लोग नहीं जानते। जब तक भगवान् की श्रीमत न लेवें, कुछ भी समझ न सकें। तुम बच्चे अब श्रीमत ले रहे हो। यह अच्छी रीति बुद्धि में रखो कि हम शिवबाबा की मत पर बाबा को याद करते-करते यह बन रहे हैं। याद से ही पाप भस्म होंगे, और कोई उपाय नहीं।

लक्ष्मी-नारायण तो गोरे हैं ना। मन्दिरों में फिर सांवरे बना रखे हैं। रघुनाथ मन्दिर में राम को काला बनाया है – क्यों? किसको पता नहीं। बात कितनी छोटी है। राम तो है त्रेता का। थोड़ा-सा फ़र्क हो जाता है, 2 कला कम हुई ना। बाबा समझाते हैं शुरू में यह थे सतोप्रधान खूबसूरत। प्रजा भी सतोप्रधान बन जाती है परन्तु सज़ायें खाकर बनती है। जितनी जास्ती सज़ा, उतना पद भी कम हो जाता है। मेहनत नहीं करते तो पाप कटते नहीं। पद कम हो जाता है। बाप तो क्लीयर कर समझाते हैं। तुम यहाँ बैठे हो गोरा बनने के लिए। परन्तु माया बड़ी दुश्मन है, जिसने काला बनाया है। देखते हैं अब गोरा बनाने वाला आया है तो माया सामना करती है। बाप कहते हैं यह तो ड्रामा अनुसार उनको आधाकल्प का पार्ट बजाना है। माया घड़ी-घड़ी मुख मोड़ और तरफ ले जाती है। लिखते हैं बाबा हमको माया बहुत तंग करती है। बाबा कहते यही युद्ध है। तुम गोरे से काले फिर काले से गोरे बनते हो, यह खेल है। समझाते भी उनको हैं जिसने पूरे 84 जन्म लिये हैं। उनके पांव भारत में ही आते हैं। ऐसे भी नहीं, भारत में सब 84 जन्म लेने वाले हैं।

अभी तुम बच्चों का यह टाइम मोस्ट वैल्युबुल है। पुरूषार्थ करना चाहिए पूरा, हमको ऐसा बनना है। जरूर बाप ने कहा है सिर्फ मुझे याद करो और दैवीगुण भी धारण करने हैं। किसको भी दु:ख नहीं देना है। बाप कहते हैं – बच्चों, अब ऐसी ग़फलत मत करो। बुद्धियोग एक बाप से लगाओ। तुमने प्रतिज्ञा की थी हम आप पर वारी जायेंगे। जन्म-जन्मान्तर प्रतिज्ञा करते आये हो – बाबा, आप आयेंगे तो हम आपकी मत पर ही चलेंगे, पावन बन देवता बन जायेंगे। अगर युगल तुम्हारा साथ नहीं देता तो तुम अपना पुरूषार्थ करो। युगल साथी नहीं बनते तो जोड़ी नहीं बनेगी। जिसने जितना याद किया होगा, दैवीगुण धारण किया होगा, उनकी ही जोड़ी बनेगी। जैसे देखो ब्रह्मा-सरस्वती ने अच्छा पुरूषार्थ किया है तो जोड़ी बनती हैं। यह बहुत अच्छी सर्विस करते हैं, याद में रहते हैं, यह भी गुण है ना। गोपों में भी अच्छे-अच्छे बहुत बच्चे हैं। कोई खुद भी समझते हैं, माया की कशिश होती है। यह जंजीर टूटती नहीं है। घड़ी-घड़ी नाम-रूप में फँसा देती है। बाप कहते हैं नाम-रूप में नहीं फँसो। मेरे में फंसो ना। जैसे तुम निराकार हो, मैं भी निराकार हूँ। तुमको आप समान बनाता हूँ। टीचर आप समान बनायेंगे ना। सर्जन, सर्जन बनायेंगे। यह तो बेहद का बाप है, उनका नाम बाला है। बुलाते भी हैं – हे पतित-पावन आओ। आत्मा बुलाती है, शरीर द्वारा – बाबा आकर हमको पावन बनाओ। तुम जानते हो हमें पावन कैसे बना रहे हैं। जैसे हीरे होते हैं, उनमें भी कोई काले दाग़ी होते हैं। अभी आत्मा में अलाए पड़ा है। उसको निकाल फिर सच्चा सोना बनते हैं। आत्मा को बहुत प्योर बनना है। तुम्हारी एम ऑबजेक्ट क्लीयर है। और सतसंगों में ऐसे कभी नहीं कहेंगे।

बाप समझाते हैं, तुम्हारा उद्देश्य है यह बनने का। यह भी जानते हो ड्रामा अनुसार हम आधाकल्प रावण के संग में विकारी बने हैं। अब यह बनना है। तुम्हारे पास बैज भी है। इस पर समझाना बहुत सहज है। यह है त्रिमूर्ति। ब्रह्मा द्वारा स्थापना परन्तु ब्रह्मा तो करते नहीं हैं। वह तो पतित से पावन बनते हैं। मनुष्यों को यह पता नहीं है कि यह पतित ही फिर पावन बनते हैं। अब तुम बच्चे समझते हो मंजिल पढ़ाई की ऊंची है। बाप आते हैं पढ़ाने के लिए। ज्ञान है ही बाबा में, वह कोई से पढ़ा हुआ नहीं है। ड्रामा के प्लैन अनुसार उनमें ज्ञान है। ऐसे नहीं कहेंगे कि इनमें ज्ञान कहाँ से आया? नहीं, वह है ही नॉलेजफुल। वही तुम्हें पतित से पावन बनाते हैं। मनुष्य तो पावन बनने के लिए गंगा आदि में स्नान करते ही रहते हैं। समुद्र में भी स्नान करते हैं। फिर पूजा भी करते हैं, सागर देवता समझते हैं। वास्तव में नदियां जो बहती हैं वह तो हैं ही। कभी विनाश को नहीं पाती। बाकी पहले यह ऑर्डर में रहती थी। बाढ़ आदि का नाम नहीं था। कभी मनुष्य डूबते नहीं थे। वहाँ तो मनुष्य ही थोड़े होते थे, फिर वृद्धि को पाते रहते हैं। कलियुग अन्त तक कितने मनुष्य हो जाते हैं। वहाँ तो आयु भी बहुत बड़ी रहती है। कितने कम मनुष्य होंगे। फिर 2500 वर्ष में कितनी वृद्धि हो जाती है। झाड़ का कितना विस्तार हो जाता है। पहले-पहले भारत में सिर्फ हमारा ही राज्य था। तुम ऐसे कहेंगे। तुम्हारे में भी कोई हैं जिनको याद रहता है हम अपना राज्य स्थापन कर रहे हैं। हम रूहानी वारियर्स योगबल वाले हैं। यह भी भूल जाते हैं। हम माया से लड़ाई करने वाले हैं। अब यह राजधानी स्थापन हो रही है। जितना बाप को याद करेंगे उतना विजयी बनेंगे। एम ऑबजेक्ट है ही ऐसा बनने के लिए। इन द्वारा बाबा हमको यह देवता बनाते हैं। तो फिर क्या करना चाहिए? बाप को याद करना चाहिए। यह तो हुआ दलाल। गायन भी है जब सतगुरु मिला दलाल के रूप में। बाबा यह शरीर लेते हैं तो यह बीच में दलाल हुआ ना। फिर तुम्हारा योग लगवाते हैं शिवबाबा से, बाकी सगाई आदि नाम मत लो। शिवबाबा इस द्वारा हमारी आत्मा को पवित्र बनाते हैं। कहते हैं – हे बच्चों, मुझ बाप को याद करो। तुम तो ऐसे नहीं कहेंगे – मुझ बाप को याद करो। तुम बाप का ज्ञान सुनायेंगे – बाबा ऐसे कहते हैं। यह भी बाप अच्छी रीति समझाते हैं। आगे चल बहुतों को साक्षात्कार होंगे फिर दिल अन्दर खाता रहेगा। बाप कहते हैं अब टाइम बहुत थोड़ा रहा है। इन आंखों से तुम विनाश देखेंगे। जब रिहर्सल होगी तो तुम देखेंगे ऐसा विनाश होगा। इन आंखों से भी बहुत देखेंगे। बहुतों को वैकुण्ठ का भी साक्षात्कार होगा। यह सब जल्दी-जल्दी होते रहेंगे। ज्ञान मार्ग में सब है रीयल, भक्ति में है इमीटेशन। सिर्फ साक्षात्कार किया, बना थोड़ेही। तुम तो बनते हो। जो साक्षात्कार किया है फिर इन आंखों से देखेंगे। विनाश देखना कोई मासी का घर नहीं है, बात मत पूछो। एक-दो के सामने खून करते हैं। दो हाथ से ताली बजेगी ना। दो भाइयों को अलग कर देते हैं – आपस में बैठ लड़ो। यह भी ड्रामा बना हुआ है। इस राज़ को वह समझते नहीं हैं। दो को अलग करने से लड़ते रहते हैं। तो उन्हों का बारूद बिकता रहेगा। कमाई हुई ना। परन्तु पिछाड़ी में इनसे काम नहीं होगा। घर बैठे बॉम फेकेंगे और खलास। उसमें न मनुष्यों की, न हथियारों की दरकार है। तो बाप समझाते हैं – बच्चे, स्थापना तो जरूर होनी है। जितना जो पुरूषार्थ करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। समझाते तो बहुत हैं, भगवान् कहता है यह काम कटारी न चलाओ। काम को जीतने से जगतजीत बनना है। आखरीन में कोई को तीर लगेगा जरूर। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) यह टाइम मोस्ट वैल्युबल है, इसमें ही पुरूषार्थ कर बाप पर पूरा वारी जाना है। दैवी गुण धारण करने है। कोई प्रकार की ग़फलत नहीं करनी है। एक बाप की मत पर चलना है।

2) एम आब्जेक्ट को सामने रख बहुत खबरदारी से चलना है। आत्मा को सतोप्रधान पवित्र बनाने की मेहनत करनी है। अन्दर में जो भी दाग़ हैं, उन्हें जांच कर निकालना है।

वरदान:- ब्राह्मण जीवन में सदा खुशी की खुराक खाने और खुशी बांटने वाले खुशनसीब भव
इस दुनिया में आप ब्राह्मणों जैसा खुशनसीब कोई हो नहीं सकता क्योंकि इस जीवन में ही आप सबको बापदादा का दिलतख्त मिलता है। सदा खुशी की खुराक खाते हो और खुशी बांटते हो। इस समय बेफिक्र बादशाह हो। ऐसी बेफिक्र जीवन सारे कल्प में और किसी भी युग में नहीं है। सतयुग में बेफिक्र होंगे लेकिन वहाँ ज्ञान नहीं होगा, अभी आपको ज्ञान है इसलिए दिल से निकलता है मेरे जैसा खुशनसीब कोई नहीं।
स्लोगन:- संगमयुग के स्वराज्य अधिकारी ही भविष्य के विश्व राज्य अधिकारी बनते हैं।

TODAY MURLI 7 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 June 2018 :- Click Here

07/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are establishing one religion and one kingdom in the world on the basis of silence. This is the pure pride of silence.
Question: How do people of the world curse themselves and how do some children curse themselves?
Answer: People of the whole world say that God is omnipresent and thereby curse themselves. However, if children say “Baba, Baba” and then burn themselves in the fire of lust, they curse themselves; they are slapped by Maya. Baba says: O sweetest, beloved souls, now become satopradhan. Do not become a Bhasmasur (a devil who burnt himself to death).

Om shanti. You children know that you are now going from darkness into light. Moonlight is like the subtle region. When the sun rises, there is the warmth of the sun. The moon brings coolness. This light is for these eyes. Souls also have sight. You souls receive the eye of the intellect. You souls know that you truly recognise the unlimited Father and that you also recognise with those eyes the chariot, Brahma, which Shiv Baba enters. You children have now had recognition. You have this recognition when you meet him personally. He (Brahma) is also called Nandigan and Bhagirath. Nandigan is always shown as a bull and Bhagirath is shown as a human being. They show a picture of Shankar and believe that the Ganges emerged through him. However, it was not the Ganges of water. You now know this. You Brahmins now have knowledge of all the scriptures etc. You explain the essence of all the Vedas, the Granth, the Upanishads etc. Some daughters have never studied or heard the scriptures but they are able to understand the essence of the Vedas and scriptures. Uneducated ones go ahead of the educated ones; the educated ones will bow down in front of those who are uneducated. Generally, uneducated ones bow down in front of educated ones. The wonder here is that those who haven’t studied anything know all the Vedas, scriptures, religions and the activities of the path of devotion. In their stage of retirement, human beings adopt gurus and they (gurus) then sit and relate the scriptures etc. to them. They believe that they will find the path to God from a guru. It is as though that is a mountain and that they can climb any path to reach the top. However, it is not like that. Those of you who didn’t know anything now know everything. The Supreme Father, the Supreme Soul, had the arrows of knowledge shot at Bhishampitamai etc. by the kumaris. The world doesn’t know these things. Jagadamba, Saraswati is a kumari. Big pundits give themselves the sur name, ‘Saraswati’. In fact, the Saraswati of knowledge who emerged from the Ganges of Knowledge is Mama. Truly, the kumaris are now developing more power because they haven’t climbed the wrong ladder. When a man marries, his attachment to his parents is removed and transferred to his wife. He becomes a slave of his wife. Then, when he has children, attachment is transferred to them. You now become destroyers of attachment to all. You have the faith that you are souls. The soul’s yoga is connected to the Father. Yoga means remembrance. Your matters are unique. Kumaris are pure. They don’t go on pilgrimages because they are pure anyway. Human beings go on pilgrimages to cut their sins away. They believe that the Ganges is the Purifier. The Purifier has to be One. If the Ganges (water) is the Purifier, then why do they go there? They go there to see it. They say that the Ganges emerged where an arrow was shot. They have created a Gaumukh (mouth of cow) and placed it there. The Father sits here and explains: Children, you are souls. Consider yourselves to be souls and remember Me. He is the Father and also the Satguru. In temples, they show the feet of Krishna. Shiv Baba doesn’t have feet of His own because He doesn’t have a body of His own. Therefore, no one becomes the dust at His feet. Baba says: Children, you don’t have to become the dust at Shiv Baba’s feet. I come and liberate you children from those iron-aged customs and systems. I don’t have feet. Shiva doesn’t have a body. This is the body of Brahma. Therefore, you cannot worship Shiv Baba. Shiva has entered this lucky chariot. On the path of devotion, people offer flowers to those who say of themselves, “Shivohum” (I am Shiva). All of those customs and systems are the path of devotion. They don’t understand the meaning of them at all. They say that women should not worship a lingam, but they don’t understand who the lingam represents. In fact, Shiva is not such a big lingam image. He is a s tar, so why can they not worship Him? Shiva means the Supreme Father, the Supreme Soul, the Benefactor. In fact, He should be worshipped a great deal. Shiva, the Benefactor, is only One. He is the One who makes you pure from impure. He benefits everyone. Those who were the first number, Lakshmi and Narayan, took 84 births and became impure and so everyone has become impure. All have come down from the satopradhan stage and become rajo and tamo. The One who benefits everyone is the one Father alone. At this time all human beings are impure. They don’t become impure as soon as they come down here. At first they are pure. The Father sits here and explains all of this. My beloved, long-lost-and-now-found children and saligrams, are you listening to what that Father is saying through this mouth? No one else can say this. No sannyasi etc. can say: I am ever pure and am speaking to you souls through this body. Only the Father can say this. Some say “Baba, Baba” and then become a Bhasmasur. Maya slaps them and so they burn themselves. Lust is a fire, is it not? The Father comes and liberates you from being a Bhasmasur. He explains: Sweetest children, you are My children. You reside in Brahmand. There, you are bodiless and this is why there are no thoughts of any kind. You then go into your part s. This too is predestined in the drama. Your reward is now just ahead. You are now trikaldarshi. Those sanskars of yours disappear here. This knowledge will not remain there. While you are here, there is knowledge. For example, someone takes the sanskars from here and those sanskars then emerge and so, according to that, he can become part of this Shakti Army again. (Example of soldiers who take the sanskars of battling with them) Then, when they grow a little older, they enrol in the military. If someone is to take birth here, then, according to the sanskars he takes with him, he will take birth in a good home. Then, little children with those sanskars also come here. When you take a new birth in heaven, the sanskars of here will have been finished. Then, you will develop the sanskars of ruling in order to experience your reward, and these sanskars will have become merged. Some children had a lot of love and so those souls become very happy when they come here, but they are unable to speak because the organs are still small. As they grow, those sanskars will continue to emerge. The Father explains so many things. He is the Supreme Father, the Supreme Soul, and so the inheritance would surely be received from the Father. He alone is the Creator of heaven. He would not be called the Creator of hell. You children know that you are claiming your inheritance of heaven from Baba. You also received it in the previous cycle. It is only at this time that you receive the inheritance of unlimited happiness from the unlimited Father. Only you can say this. These things are completely new. You explain that the Gita is the mother and father. All the rest of the scriptures are its children. It is only through the Gita that you receive the inheritance of Raja Yoga and the kingdom of heaven. What inheritance would you receive from children? You now become those with divine intellects. Therefore, your palaces etc. will be built very quickly. Yours is the pure pride of silence whereas theirs is the arrogance of science. You claim the kingdom from the Almighty Authority Father; you become the masters of Bharat. Always keep it in your intellects that the Creator of the world is teaching you in order to make you into the masters of the world. He gives you liberation-in-life in a second. So, would the Father not be able to enter this one in a second? A soul leaves here for London or America and takes birth there in a second. Souls are a flying squad. They are such tiny stars. You definitely believe in rebirth. How many rebirths have you taken? You definitely have to enter the cycle of 84 births. Those who have completely impure, shudra intellects come and once again become those with clean intellects. The company of those with clean intellects will make you the same. You are now master oceans of knowledge. You are imbibing the virtues that the Father has in Him. You too say: Manmanabhav! Therefore, you souls will become clean. However, Baba alone has the key to divine vision. You change from human beings into deities and this is why even children are shown with a crown. Otherwise, little children don’t have a crown. He is just shown as a prince. Mothers see in visions how they will go and become empresses. You souls can also understand through knowledge that you have now become impure. “I am a carpenter I am poor.” It is the soul that says this. You now know that you are becoming deities through Shiv Baba. It is the soul that becomes impure and pure. Now, I, the soul, am impure and so my body is also impure; it has alloy in it. By talking to yourself in this way, you can continue to churn the ocean of knowledge. The habit will then be instilled. You children have to churn the ocean of knowledge as to what is right and what is wrong. Have the faith that you are a soul. I am a Brahmin. They invoke a soul through a body. Why do they not call the body? They feed the soul. OK, how would the soul eat? He would eat through the body of the brahmin priest. A widow would understand that she has called the soul of her husband. When a widower loved his wife and her soul is invited, he would feel, “What gift should I give her?” So, he puts a ring or a nose-stud on her. That is just the soul; the body cannot come here. In fact, the soul doesn’t even come. All of that is fixed in the drama. It is also a game. They think: So-and-so has come and I am feeding that one. They feed an eminent person with a lot of pomp and splendour. It is a custom and system. In fact, brahmin priests don’t have to have a job but, nowadays, they do everything for their stomach (livelihood). Otherwise, brahmin priests consider themselves to be very elevated. However, they are a creation born through a womb. You Brahmins are mouth-born. You are praised a lot. You have now understood. You have the knowledge of the beginning, middle and end of the whole world. No one, except the one Father, would be called knowledge-full. Those whom He changes from human beings into deities also definitely need to be adopted because He is the Mother and Father. The Father comes and creates you through this one. It is very difficult for anyone else to understand these things. These are such wonderful things! He says: Day by day, I tell you deep secrets. You have to imbibe this knowledge till the end. At the end, you will reach your karmateet stage. Eight pass with honours. When someone in the military dies, they give him full honours. All of you are making effort. This is the race to become karmateet. Who is having good yoga and becoming part of the rosary of Rudra? Mama and Baba are very well known and it is then numberwise. Those who pass with honours receive full marks. They don’t experience any punishment. They are given a lot of respect. Nine jewels are always remembered, not eight. There are four pairs and then there is the one Father in the middle. Those people don’t understand the meaning. They create whatever someone advises them. Jains teach hatha yoga a lot. They even pluck out each hair. That is violence. That renunciation is one that causes suffering. You don’t have to do anything like that. You are tempted and inspired to renounce the vices. No one except you has this knowledge. You have truly been around the cycle of 84 births. We are now to return home. The more yoga you have, the purer you will become. If you continue to stay in remembrance and do service, you will receive greater fruit. The Father is the most beloved from whom you receive the inheritance of happiness for 21 births. Achcha.

To the sweetest beloved long-lost and now-found children, love remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Run the race to become karmateet. In order to receive good fruit, do service whilst staying in remembrance.
  2. Keep the company of those who have clean intellects and become clean. Imbibe the virtues of the Father. Never curse yourself.
Blessing: May you be a karma yogi free from any bondage of karma and, as the master, make your the physical organs act.
A Brahmin life is not a life of karmic bondage, it is a karma yogi life. Be the master of your physical organ and continue to make the physical organs act as you want, when you want and for however long you want and you will become an angel from a Brahmin. All karmic bondages will finish. You have received that body for the sake of service. The life of karmic accounts of karmic bondages has finished. The relationships with the old body and the world of the body have now finished. This is why this life is called the life of dying alive.
Slogan: In order to experience the company of the Comforter of Hearts, maintain the stage of a detached observer.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 7 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 June 2018

To Read Murli 6 June 2018 :- Click Here
07-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे-साइलेन्स के आधार पर तुम विश्व में एक धर्म, एक राज्य की स्थापना करते हो – यह है साइलेन्स का घमन्ड”
प्रश्नः- सारी दुनिया अपने आपको श्रापित कैसे करती और बच्चे कैसे करते?
उत्तर:- सारी दुनिया भगवान को सर्वव्यापी कह अपने आपको श्रापित करती और बच्चे बाबा-बाबा कह फिर यदि काम अग्नि से स्वयं को भस्म करते तो श्रापित हो जाते। माया का थप्पड़ लग जाता है। बाबा कहते – हे मीठी लाडली आत्मायें, अब सतोप्रधान बनो, भस्मासुर नहीं।

ओम् शान्ति। बच्चे जानते हैं कि हम अभी अन्धियारे से रोशनी में जाते हैं। चन्द्रमा की रोशनी ऐसी है जैसे सूक्ष्मवतन। सूर्य निकलता है तो उसकी तपत (गर्मी) हो जाती है। चन्द्रमा शीतलता देता है। अब यह लाइट तो इन आंखों के लिए है। आत्मा को भी आंखे हैं। आत्मा को बुद्धि की आंखे मिलती हैं। आत्मा जानती है – बरोबर अभी बेहद के बाप को भी जानते हैं और इन आंखों से ब्रह्मा रथ जिसमें शिवबाबा प्रवेश करते हैं उनको भी जानते हैं। तुम बच्चों को पहचान हुई है। यह पहचान तब होती है जबकि सम्मुख मिला जाता है। नंदीगण, भागीरथ भी कहते हैं। नंदीगण हमेशा बैल को दिखाते हैं। भागीरथ फिर मनुष्य को दिखाते हैं। एक शंकर का चित्र दिखाते हैं, समझते हैं उनसे गंगा आई। अब पानी की गंगा तो है नहीं। यह अभी तुम जान गये हो। अभी तुम ब्राह्मणों को सभी शास्त्रों आदि का ज्ञान है। सभी वेदों, ग्रंथों, उपनिषदों आदि का तुम सार समझाते हो। कई बच्चियां हैं जिन्होंने कभी कोई शास्त्र आदि पढ़ा और सुना ही नहीं है। परन्तु सब वेदों शास्त्रों के सार को समझ रही हैं। अनपढ़ और ही पढ़े हुए से तीखे जाते हैं। अनपढ़े आगे पढ़े हुए भरी ढोयेंगे। नहीं तो अनपढ़े, पढ़े के आगे भरी ढोते हैं। यहाँ यह वन्डर है ना। कुछ नहीं पढ़े हुए सब वेद, शास्त्रों, धर्मों, भक्ति मार्ग के कर्म काण्डों को जानते हैं। मनुष्य वानप्रस्थ अवस्था में ही गुरू करते हैं फिर वह बैठ उन्हों को शास्त्र आदि सुनाते हैं। वे समझते हैं इनसे परमात्मा के पास जाने का रास्ता मिलता है। जैसे कोई पहाड़ी है, कहाँ से भी ऊपर चढ़कर जाना है। परन्तु ऐसे तो है नहीं। तुम जो कुछ नहीं जानते थे अभी सब कुछ जान गये हो। कुमारियों द्वारा ही परमपिता परमात्मा ने भीष्म पितामह आदि को ज्ञान बाण मरवाये हैं। दुनिया इन बातों को नहीं जानती। जगत अम्बा सरस्वती कुमारी है ना। बड़े-बड़े पण्डित सरस्वती सरनेम रखाते हैं। वास्तव में ज्ञान सागर से निकली हुई ज्ञान सरस्वती है मम्मा। बरोबर अभी कन्याओं में ताकत जास्ती आती है क्योंकि वह उल्टी सीढ़ी नहीं चढ़ी है। पुरुष जब शादी करता है तो स्त्री में मोह चला जाता है फिर माँ-बाप आदि सबसे मोह निकल स्त्री के मुरीद बन जाते हैं। फिर बच्चे पैदा करते हैं तो उनमें मोह चला जाता है। अभी तुम सबसे नष्टोमोहा बनते हो। अपने को आत्मा निश्चय करते हो। आत्मा का योग है बाप से, योग अर्थात् याद। तुम्हारी बात ही निराली होती है ना। कन्यायें तो पवित्र होती हैं। वह तीर्थ आदि नहीं करती क्योंकि हैं ही पवित्र। मनुष्य तीर्थों पर जाते हैं पाप काटने। समझते हैं गंगा पतित-पावनी है। पतित-पावन तो एक होना चाहिए ना। गंगा पतित-पावनी है तो फिर वहाँ क्यों जाते हैं। वहाँ देखने जाते हैं। कहते हैं तीर मारा फिर गंगा निकली। कुछ न कुछ गऊमुख आदि बनाकर रखते हैं। तो बाप बैठ समझाते हैं – बच्चे, तुम आत्मा हो। अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो। वह बाप भी है। सतगुरू भी है। मन्दिरों में कृष्ण के पांव दिखाते हैं। शिवबाबा को तो अपने पैर हैं नहीं क्योंकि उनको शरीर ही नहीं है जो कोई चरणों की धूल बनें। बाबा कहते हैं – बच्चे, तुमको शिवबाबा के चरणों की धूल नहीं बनना है। मैं इन सब कलियुगी रस्म-रिवाजों से तुम बच्चों को आकर छुड़ाता हूँ। मेरे चरण हैं नहीं। शिव को तो शरीर है नहीं। यह तो ब्रह्मा का तन है इसलिए तुम शिवबाबा की पूजा नहीं कर सकते। इस भाग्यशाली रथ में शिव आया है। भक्तिमार्ग में शिवोहम् कहने वालों पर फूल आदि चढ़ाते हैं। यह है सब भक्ति मार्ग की रस्म-रिवाज। अर्थ कुछ भी समझते नहीं। कहते हैं स्त्रियों को लिंग की पूजा नहीं करनी चाहिए। परन्तु वह कौन है – यह भी समझते नहीं। वास्तव में शिव कोई ऐसा लिंग रूप तो है नहीं। वह तो स्टार है, उनकी पूजा क्यों नहीं कर सकते। शिव माना ही है परमपिता परमात्मा कल्याणकारी। वास्तव में उनकी पूजा तो बहुत होनी चाहिए। शिव कल्याणकारी एक ही है। वही पतित से पावन बनाते हैं। सबका कल्याण करते हैं। जो पहले नम्बर में लक्ष्मी-नारायण थे वही 84 जन्म ले पतित बनें हैं तो सब पतित हो गये। सतोप्रधान से रजो तमो में सब आ गये हैं। सबका कल्याण करने वाला एक ही बाप ठहरा। इस समय मनुष्य सब पतित बने हैं। पहले आने से ही पतित नहीं होते हैं। पहले तो पावन होते हैं। यह बाप बैठ समझाते हैं – मेरे लाडले सिकीलधे बच्चे वा सालिग्रामों, सुनते हो बाप इस मुख से क्या कह रहे हैं? और कोई तो कह न सके। कोई भी सन्यासी आदि कह न सकें कि हम एवर पावन इस शरीर द्वारा तुम आत्माओं से बोल रहा हूँ। बाप ही कह सकते हैं। कई बाबा-बाबा कह कर भी फिर भस्मासुर बन जाते हैं। माया थप्पड़ लगा देती है तो अपने को भस्म कर देते हैं। काम अग्नि है ना। बाप आकर इस भस्मासुर-पने से छुड़ाते हैं। समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चे तुम मेरी सन्तान हो। तुम ब्रह्माण्ड में रहते हो। वहाँ तुम अशरीरी हो इसलिए कोई संकल्प विकल्प नहीं चलता है, फिर पार्ट में आते हो – यह भी ड्रामा बना हुआ है। अभी तुम्हारी प्रालब्ध खड़ी है। अभी तुम हो त्रिकालदर्शी। यह संस्कार तुम्हारे यहाँ ही प्राय:लोप हो जाते हैं। यह ज्ञान वहाँ नहीं रहेगा। जब तक यहाँ हो तो ज्ञान है। समझो कोई यहाँ से संस्कार ले जाते हैं वह फिर इमर्ज होते हैं तो उसी अनुसार इस शक्ति सेना में आकर दाखिल हो सकते हैं। (लड़ाई वालों का मिसाल) उनमें थोड़ा बड़ा होने से ही मिलेट्री में दाखिल हो जाते हैं। कोई को यहाँ आना होगा तो संस्कार जो ले जाते हैं उस अनुसार अच्छे घर में जाकर जन्म लेते हैं फिर ऐसे संस्कारों वाले छोटे बच्चे भी यहाँ आते हैं। फिर स्वर्ग में नया जन्म लेंगे, तो यहाँ के संस्कार खत्म हो जायेंगे। फिर राजधानी के संस्कार आयेंगे प्रालब्ध भोगने के लिए। यह संस्कार मर्ज हो जाते हैं। कई बच्चों का बहुत लव रहता है। तो वह आत्मा देखकर खुश होती है। परन्तु आरगन्स छोटे होने कारण बोल नहीं सकते हैं। बड़ा होने से संस्कार इमर्ज होते जायेंगे। बाप कितनी बातें समझाते हैं।

परमपिता परमात्मा है तो पिता से वर्सा जरूर मिलना चाहिए। वह है ही स्वर्ग का रचता। नर्क का रचता नहीं कहेंगे। तुम बच्चे जानते हो हम बाबा से स्वर्ग का वर्सा ले रहे हैं। कल्प पहले भी लिया था। इसी समय पर ही बेहद के बाप से बेहद सुख का वर्सा मिलता है। यह सिर्फ तुम ही कह सकते हो। यह हैं बिल्कुल नई बातें। तुम समझाते हो गीता है माई बाप। बाकी सब शास्त्र हैं उनके बाल-बच्चे। गीता से ही राजयोग का व स्वर्ग की राजाई का वर्सा मिलता है। बाकी बाल-बच्चों से वर्सा क्या मिलेगा। तुम तो अब पारसबुद्धि बनते हो, तुम्हारे महल आदि भी बहुत क्वीक बनेंगे। तुम्हारा है साइलेन्स का घमन्ड, उन्हों का है साइंस का घमण्ड। तुम सर्वशक्तिमान बाप से राजाई लेते हो। भारत के तुम मालिक बनते हो। यह हमेशा बुद्धि में रखो – विश्व का रचता हमको विश्व का मालिक बनाने लिए पढ़ाते हैं। एक सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति देते हैं तो क्या एक सेकेण्ड में बाप इसमें प्रवेश नहीं कर सकेंगे। एक सेकेण्ड में आत्मा यहाँ से लण्डन-अमेरिका आदि में जाए जन्म लेती है। आत्मा एकदम फ्लाइंग स्क्वाइड है। है कितना छोटा स्टार। पुन-र्जन्म तो जरूर मानेंगे। तुमने कितने पुनर्जन्म लिए हैं। 84 जन्मों में जरूर आना है जो बिल्कुल ही पतित शूद्र बुद्धि हैं वे आकर फिर से स्वच्छ बुद्धि बनते हैं। स्वच्छ बुद्धि का संग जरूर ऐसा ही बनायेगा। अभी तुम मास्टर ज्ञान सागर ठहरे। जो बाप में गुण हैं वह तुम धारण करते हो। तुम भी कहते हो मन्मनाभव। तो तुम्हारी आत्मा स्वच्छ हो जायेगी। बाकी दिव्य दृष्टि की चाबी बाबा के पास ही है। तुम मनुष्य से देवता बनते हो इसलिए बच्चे को भी ताज दिखाते हैं। नहीं तो छोटे बच्चों को ताज नहीं होता। वह प्रिन्स ही देखते हैं। मातायें साक्षात्कार में देखती है – हम जाकर महारानी बनेंगी। ज्ञान से भी समझ सकते हैं अभी हमारी आत्मा पतित है। मैं कारपेन्टर हूँ, मैं गरीब हूँ – यह आत्मा बोलती है। अभी तुम जानते हो शिवबाबा द्वारा हम देवता बन रहे हैं। आत्मा ही पतित और पावन बनती है। अभी मैं आत्मा पतित हूँ तो शरीर भी ऐसे पतित हैं। खाद पड़ी है। ऐसे-ऐसे अपने साथ बातें करते विचार सागर मंथन करते रहना चाहिए। तो फिर आदत पड़ जायेगी। विचार सागर मंथन तुम बच्चों को करना है – राइट क्या है, रांग क्या है।

अपने को आत्मा निश्चय करना है। मैं ब्राह्मण हूँ। शरीर द्वारा आत्मा को ही बुलाते हैं। शरीर को क्यों नहीं बुलाते। खिलाते भी आत्मा को है। अच्छा, आत्मा कैसे खायेगी? ब्राह्मण के शरीर द्वारा खायेगी ना। स्त्री समझती है पति की आत्मा को बुलाया है। किसको स्त्री में प्यार होता है जब उनकी आत्मा को बुलाते हैं तो समझते हैं अब इनको क्या सौगात दें। फिर उनको अंगूठी वा फुल्ली पहना देते हैं। है तो आत्मा शरीर तो नहीं आ सकता। वास्तव में आत्मा कोई आती भी नहीं है। यह सब ड्रामा में नूंध है। यह भी एक खेल है। वह समझते हैं फलाना आया हुआ है। मैं उनको खिलाता हूँ। बड़े आदमी को धूमधाम से खिलाते हैं। यह रस्म-रिवाज है। वास्तव में ब्राह्मणों को कोई नौकरी नहीं करनी है। परन्तु आजकल पेट के लिए सब कुछ करते हैं। नहीं तो ब्राह्मण लोग अपने को बहुत ऊंच समझते हैं। परन्तु वह हैं कुख वंशावली। तुम हो मुख वंशावली ब्राह्मण। तुम्हारी बहुत महिमा है। तुम अब समझ गये हो। हम सारे सृष्टि के आदि मध्य अन्त की नॉलेज को जानते हैं। सिवाए एक बाप के और कोई को नॉलेजफुल नहीं कहेंगे। जिनको मनुष्य से देवता बनाते हैं उनको भी गोद जरूर चाहिए क्योंकि यह है मात-पिता। बाप आकर तुमको इन द्वारा रचते हैं। यह बातें और कोई की समझ में मुश्किल आती हैं। कितनी वन्डरफुल बातें हैं! कहते हैं दिन-प्रतिदिन तुमको गुह्य राज़ सुनाता हूँ। अन्त तक यह नॉलेज धारण करनी है। पिछाड़ी में जाकर कर्मातीत अवस्था होगी। 8 पास विद ऑनर होते हैं। मिलेट्री में मरते हैं तो उनको पूरा सम्मान देते हैं। यह सब पुरुषार्थ कर रहे हैं, कर्मातीत बनने की रेस है। कौन अच्छी रीति योग लगाते और रूद्र माला में जाते हैं। मम्मा-बाबा तो प्रसिद्ध हैं फिर हैं नम्बरवार। पास विद आनर्स को फुल मार्क्स मिलते हैं। वह सजा आदि कुछ नहीं खाते हैं। उन्हों का मान बहुत है। हमेशा 9 रत्न गाये जाते हैं, 8 नहीं। 4 की जोड़ी हो जाती। बाकी है एक बीच में बाप। वह लोग तो अर्थ को नहीं समझते। जिसने जो राय दी वह बना देते हैं। जैनी लोग कितना हठयोग करते हैं, बाल निकालते हैं। यह तो हिंसा हो गई। यह सन्यास तो दु:ख देने वाला है। तुमको तो कुछ भी नहीं करना पड़ता है। तुमको तो टैम्पटेशन देकर तुमसे विकारों का सन्यास कराते हैं। यह नॉलेज भी तुम्हारे सिवाए और कोई में नहीं है। बरोबर 84 जन्मों का चक्र लगाया। अभी हम वापिस जाते हैं। जितना योग में रहेंगे तो पवित्र बन सकेंगे। याद में रहते और सर्विस करते रहें तो उनको जास्ती फल मिलेगा। मोस्ट बिलवेड बाप है जिससे 21 जन्मों के लिए सुख का वर्सा मिलता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कर्मातीत बनने की रेस करनी है। अच्छा फल प्राप्त करने के लिए याद में रहकर सर्विस करनी है।

2) स्वच्छ बुद्धि वालों का संग करके स्वच्छ बनना है। बाप के गुणों को स्वयं में धारण करना है। स्वयं को कभी भी श्रापित नहीं करना है।

वरदान:- मालिक बन कर्मेन्द्रियों से कर्म कराने वाले कर्मयोगी, कर्मबन्धनमुक्त भव
ब्राह्मण जीवन कर्मबन्धन का जीवन नहीं, कर्मयोगी जीवन है। कर्मेन्द्रियों के मालिक बन जो चाहो, जैसे चाहो, जितना समय कर्म करने चाहो वैसे कर्मेन्द्रियों से कराते चलो तो ब्राह्मण सो फरिश्ता बन जायेंगे। कर्मबन्धन समाप्त हो जायेंगे। यह देह सेवा के अर्थ मिली है, कर्मबन्धन के हिसाब-किताब की जीवन समाप्त हुई। पुरानी देह और देह की दुनिया का संबंध समाप्त हुआ, इसलिए इसे मरजीवा जीवन कहते हैं।
स्लोगन:- दिलाराम के साथ का अनुभव करना है तो साक्षीपन की स्थिति में रहो।
Font Resize