7 july ki murli

TODAY MURLI 7 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 7 July 2020

07/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, make effort and imbibe the divine virtues very well. Never cause anyone sorrow. You shouldn’t have any devilish activities.
Question: What devilish traits spoil your decoration?
Answer: To fight and quarrel among yourselves, to sulk, to create chaos at your centre and cause sorrow, are devilish traits that spoil your decoration. Children who, even after belonging to the Father, don’t renounce those devilish traits but continue to act wrongly, suffer a great loss. An account is an account! Dharamraj is with the Father.
Song: No one is as unique as the Innocent Lord.

Om shanti. You spiritual children know that God is the Highest on High. People sing songs about this whereas you see this with divine vision. Your intellects understand that He is teaching you. It is souls that study through their bodies. It is souls that do everything through the bodies. A soul adopts a perishable body to play his part. A whole part is recorded in each soul. Eight four births are recorded in the soul. First of all, consider yourselves to be souls. The Father is the Almighty Authority. You children receive power from Him. By having yoga, you receive a lot of power and you become pure through that power. The Father gives you the power to rule a whole kingdom. He gives you such great power. Those with the arrogance of science create so many things for destruction. Their intellects work for destruction whereas your intellects work to claim an imperishable status. You receive a great deal of power and you claim the kingdom of the world through that power. There, it isn’t government of the people by the people. There, it is the kingdom of the king and queen. God is the Highest on High. People remember Him. They build temples to Lakshmi and Narayan and worship them but, nevertheless, God is remembered as the Highest on High. You now understand that Lakshmi and Narayan were the masters of the world. The highest-on-high kingdom in the world is received from the unlimited Father. You are to receive such a high status! Therefore, you children should experience so much happiness! You would definitely remember someone who gives you something. A bride has so much love for her husband; she gives her life for him. When he dies, she cries so much in distress. That One is the Husband of all husbands. He is now decorating you so well for you to claim the highest-on-high status. Therefore, you children should have so much intoxication! You have to imbibe divine virtues here. Many still have a lot of devilish traits. To fight and quarrel, to sulk, to create chaos at a centre are devilish traits. Baba knows because He receives many reports. Lust is the greatest enemy, but anger is no less an enemy. “So-and-so is shown so much love. Why am I not shown any love?” “So-and-so was asked his opinion. Why wasn’t I asked?” There are many who speak like this because their intellects have doubt. A kingdom is being established. What status would such ones claim? There’s a lot of difference in the status. Even cleaners will stay in very good mansions. Others will stay somewhere else in good houses. Each one of you has to make effort for yourself very well to imbibe divine virtues. By your becoming body conscious, there are devilish activities. When you become soul conscious and imbibe all of this very well, you will be able to claim a high status. You have to make effort accordingly to imbibe such divine virtues. Never cause anyone sorrow. You are the children of the Father who is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Never cause sorrow for anyone. Those who look after centres have a great responsibility. The Father says: Children, if someone makes a mistake, he accumulates one hundred-fold punishment. By becoming body conscious, there is a great loss because you Brahmins have become instruments to reform everyone. If you haven’t reformed yourself, how could you reform others? There would then be a great loss. There is also the Pandava Government. The Father is the Highest on High and Dharamraj is with Him. Very severe punishment is experienced through Dharamraj. When such wrong actions are performed, a great loss is experienced. An account is an account, there is an account for everything! The Father has all the accounts. On the path of devotion too, there is a proper account. It is still said that God takes account of everything you do. Here, the Father Himself says: Dharamraj takes full account of everything you do. What would you be able to do at that time? You will have visions of the things you did. There will be a little punishment there, whereas there will be a great deal of punishment here. In the golden age, you children won’t go into a jaillike womb. There, the womb is like a palace. No one commits sin etc. there. Therefore, you children have to be very cautious in order to attain such fortune of the kingdom. Some children become cleverer than their teacher. Their fortune becomes higher than that of their teacher. The Father has also explained that if someone doesn’t do service well, he will become a servant for birth after birth. As soon as the Father comes in front of you children, He asks you: Children, are you sitting here in soul consciousness? The elevated versions of the Father for the children are: Children, you have to make a lot of effort to become soul conscious. Whilst walking and moving around, continue to churn the ocean of knowledge. Many children feel that they want to go very soon from this dirty world of hell to the land of happiness. The Father says: Even very good maharathis fail to have yoga. Even they have to be inspired to make effort. If you don’t have any yoga, you fall down completely. Knowledge is very easy; the whole history and geography enters the intellect. Although many good daughters are very clever at explaining at exhibitions, neither do they have yoga nor do they have divine virtues. Sometimes Baba wonders at the present stage of some children! There is so much sorrow in the world! All of this should finish very soon. Baba (Brahma) is waiting to go soon to the land of happiness. Some are very desperate to go, just as some are very desperate to meet the Father, because Baba shows us the way to heaven. Some are very desperate to see such a Father. They feel that they want to listen to the Father face-to-face every day. You now understand that there are no problems here. When you live outside you have to fulfil your responsibility to everyone. Otherwise there would be a lot of conflict. This is why Baba gives everyone patience. This requires very incognito effort. No one is able to make that effort for remembrance. When you stay in incognito remembrance, you are able to follow the Father’s directions. Because of being body conscious, some don’t even follow the Father’s directions! Baba says: Write your chart and you will make a lot of progress. Who said this? Shiv Baba! When a teacher gives homework, the students do it. Here, Maya doesn’t allow even some very good children to do this. If Baba were to receive the charts of the very good children, He would see how much such children stay in remembrance. You souls understand that you are lovers of the one Beloved. There are many types of physical lovers and beloveds. You are very old lovers. You now have to become soul conscious. Something or other will have to be tolerated. Don’t consider yourselves to be that clever! Baba is not asking you to give your bones. Baba says: Keep yourselves in good health so that you are able to do service well. If you are ill, you will have to stay in bed. The doctors feel that an angel has come when some children go to serve in hospitals. They take the pictures with them. Those who do such service are said to be merciful. When you do such service, someone or other will emerge. The more power of remembrance you have, the more people will be drawn here. Only in this remembrance is there strength. Purity first! It is said that there first has to be purity, then peace and then prosperity. You become pure with the power of remembrance. Then, there is the power of knowledge. Don’t become weak in remembrance. It is in remembrance that there are obstacles. By staying in remembrance you will become pure and also develop divine virtues. You know the Father’s praise. The Father gives so much happiness! He makes you worthy of happiness for 21 births. Never cause sorrow for anyone. Some children do disserviceand thereby put a curse on themselves and also trouble others a lot. When someone becomes disobedient, it is as though he curses himself. By doing disservice, some fall right down. Many children either fall due to vice or else they become angry and stop studying. Many types of children are sitting here. When they leave here, refreshed, they repent for their mistakes. However, nothing is forgiven by just their repentance. The Father says: You have to forgive yourself! Stay in remembrance! The Father doesn’t forgive anyone, because this is a study. The Father is teaching you and you children have to have mercy on yourselves by studying. You have to have good manners. Baba asks the teachers to bring the register. When Baba hears the news of each one He gives guidance. Then, because some students think that their teacher has reported them to Baba, they begin to do even more disservice. A lot of effort is required here. Maya is a great enemy. She doesn’t allow you to change from being like a monkey to becoming worthy of living in a temple. Instead of claiming a high status, some fall even more and are unable to get up; they die. The Father repeatedly explains to the children that this is a very high destination. You have to become the masters of the world. Children of eminent people behave with great royalty. They are concerned not to lose their father’s honour. Of some it would be said, “Your father is so good and you are so unworthy! You are losing your father’s honour.” Here, each one loses his own honour for himself. A lot of punishment is experienced. Baba warns you: Be very cautious as you move along. Don’t become jailbirdsJailbirds exist here. In the golden age there are no jails. Nevertheless, you now have to study and claim a high status. Don’t be careless and make mistakes! Don’t cause sorrow for anyone! Stay on the pilgrimage of remembrance! It is remembrance that is useful. The main thing to explain at exhibitions is: Only by having remembrance of the Father will you become pure. Everyone wants to become pure. This is the impure world. Only the one Father comes to grant salvation to everyone. Christ and Buddha etc. couldn’t grant salvation to anyone. People mention the name of Brahma, but even Brahma cannot be the Bestower of Salvation. He is the instrument for the deity religion. Although Shiv Baba establishes the deity religion, Brahma, Vishnu and Shankar are also remembered. People speak of Trimurti Brahma. The Father says: He is not a guru either. There is only one Guru and you become spiritual gurus through Him. Those others are founders of religions. How can the founder of a religion be called the Bestower of Salvation? These are very deep matters and have to be understood. The founders of religion simply establish their religion. Their followers then follow them down. They cannot take everyone back home. They have to enter rebirth. This explanation applies to all of them. Not a single guru can grant salvation. The Father explains: There is only the one Guru and Purifier. He alone is the Bestower of Salvation and the Liberator for All. Tell everyone that we only have the one Guru. He is the One who grants salvation to everyone and takes them back home to the land of peace and the land of happiness. There are very few people at the beginning of the golden age. You would of course show the pictures of whose kingdom it was. The people of Bharat and those who worship those deities will quickly believe that they (Lakshmi and Narayan) truly were the masters of heaven, and that it used to be their kingdom in heaven. Where were all the other souls at that time? You would say that they were definitely in the incorporeal world. You now understand these things. Previously, you didn’t know anything. The cycle now turns around in your intellects. Truly, it used to be their kingdom in Bharat 5000 years ago. When the reward of knowledge comes to an end, the path of devotion begins. Then there has to be disinterest in the old world. That’s it! We will now go to the new world. The hearts are now removed from the old world. There, the husband and children etc. will all be very good. The unlimited Father is making you into the masters of the world. You children, who are to become masters of the world, must have very elevated thoughts and royal behaviour. Regarding food, you should not eat too little, nor should you have any greed. The diet of those who stay in remembrance would be very subtle (light). The intellects of many are distracted by food. You children have the happiness of becoming the masters of the world. It is said: There is no nourishment like the nourishment of happiness. If you constantly maintain such happiness, your food and drink will become very light. When you eat too much, you become very heavy and you then keep dozing off. Then you say: Baba, I feel very sleepy! Your diet should be constant. It shouldn’t be that when there is good food you eat more. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. We are the children of the Father who is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. We mustn’t cause sorrow for anyone. Don’t curse yourself by doing disservice.
  2. Have very elevated and royal thoughts. Be merciful and remain busy in service. Renounce greed for food and drink.
Blessing: May you be a conqueror of matter and Maya and, make your stage unshakeable with knowledge of the drama.
No matter what type of paper comes through matter or Maya, do not have the slightest upheaval. If you have questions such as, “What is this? Why did this happen?”, when a problem attacks you, you fail. So, no matter what happens, let this sound emerge from within: “Wah sweet drama, Wah!” Let there be no thought such as: “Oh! What happened?” Let your stage be such that there is no fluctuation in any thought. Let your stage be constantly immovable and unshakeable and you will receive the blessing of being a conqueror of matter and a conqueror of Maya.
Slogan: To relate good news and give happiness is a most elevated duty.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

07-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – पुरूषार्थ कर दैवी गुण अच्छी रीति धारण करने हैं, किसी को भी दु:ख नहीं देना है, तुम्हारी कोई भी आसुरी एक्टिविटी नहीं चाहिए”
प्रश्नः- कौन से आसुरी गुण तुम्हारे श्रृंगार को बिगाड़ देते हैं?
उत्तर:- आपस में लड़ना-झगड़ना, रूठना, सेन्टर पर धमपा मचाना, दु:ख देना – यह आसुरी गुण हैं, जो तुम्हारे श्रृंगार को बिगाड़ देते हैं। जो बच्चे बाप का बन करके भी इन आसुरी गुणों का त्याग नहीं करते हैं, उल्टे कर्म करते हैं, उन्हें बहुत घाटा पड़ जाता है। हिसाब ही हिसाब है। बाप के साथ धर्मराज भी है।
गीत:- भोलेनाथ से निराला……… 

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चे यह तो जान चुके हैं कि ऊंच ते ऊंच भगवान है। मनुष्य गाते हैं और तुम देखते हो दिव्य दृष्टि से। तुम बुद्धि से भी जानते हो कि हमको वह पढ़ा रहे हैं। आत्मा ही पढ़ती है शरीर से। सब कुछ आत्मा ही करती है शरीर से। शरीर विनाशी है, जिसको आत्मा धारण कर पार्ट बजाती है। आत्मा में ही सारे पार्ट की नूँध है। 84 जन्मों की भी आत्मा में ही नूँध है। पहले-पहले तो अपने को आत्मा समझना है। बाप है सर्वशक्तिमान्। उनसे तुम बच्चों को शक्ति मिलती है। योग से शक्ति जास्ती मिलती है, जिससे तुम पावन बनते हो। बाप तुमको शक्ति देते हैं विश्व पर राज्य करने की। इतनी महान शक्ति देते हैं, वह साइंस घमन्डी आदि इतना सब बनाते हैं विनाश के लिए। उनकी बुद्धि है विनाश के लिए, तुम्हारी बुद्धि है अविनाशी पद पाने के लिए। तुमको बहुत शक्ति मिलती है जिससे तुम विश्व पर राज्य पाते हो। वहाँ प्रजा का प्रजा पर राज्य नहीं होता है। वहाँ है ही राजा-रानी का राज्य। ऊंच ते ऊंच है भगवान। याद भी उनको करते हैं। लक्ष्मी-नारायण का सिर्फ मन्दिर बनाकर पूजते हैं। फिर भी ऊंच ते ऊंच भगवान गाया जाता है। अभी तुम समझते हो यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे। ऊंच ते ऊंच विश्व की बादशाही मिलती है बेहद के बाप से। तुमको कितना ऊंच पद मिलता है। तो बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। जिससे कुछ मिलता है उनको याद किया जाता है ना। कन्या का पति से कितना लॅव रहता है, कितना पति के पिछाड़ी प्राण देती है। पति मरता है तो या-हुसैन मचा देती है। यह तो पतियों का पति है, तुमको कितना श्रृंगार रहे हैं – यह ऊंच ते ऊंच पद प्राप्त कराने के लिए। तो तुम बच्चों में कितना नशा होना चाहिए। दैवीगुण भी तुमको यहाँ धारण करने हैं। बहुतों में अभी तक आसुरी अवगुण हैं, लड़ना-झगड़ना, रूठना, सेन्टर पर धमपा मचाना….. बाबा जानते हैं बहुत रिपोर्टस आती हैं। काम महाशत्रु है तो क्रोध भी कोई कम शत्रु नहीं है। फलाने के ऊपर प्यार, मेरे ऊपर क्यों नहीं! फलानी बात इनसे पूछी, मेरे से क्यों नहीं पूछा! ऐसे-ऐसे बोलने वाले संशय बुद्धि बहुत हैं। राजधानी स्थापन होती है ना। ऐसे-ऐसे क्या पद पायेंगे। मर्तबे में तो फ़र्क बहुत रहता है। मेहतर भी देखो अच्छे-अच्छे महलों में रहते, कोई कहाँ रहते। हर एक को अपना पुरूषार्थ कर दैवीगुण अच्छे धारण करने हैं। देह-अभिमान में आने से आसुरी एक्टिविटी होती है। जब देही-अभिमानी बन अच्छी रीति धारणा करते रहो तब ऊंच पद पाओ। पुरूषार्थ ऐसा करना है, दैवीगुण धारण करने का, किसको दु:ख नहीं देना है। तुम बच्चे दु:ख हर्ता, सुख कर्ता बाप के बच्चे हो। कोई को भी दु:ख नहीं देना चाहिए। जो सेन्टर सम्भालते हैं उन पर बहुत रेसपान्सिबिलिटी है। जैसे बाप कहते हैं – बच्चे, अगर कोई भूल करता है तो सौगुणा दण्ड पड़ जाता है। देह-अभिमान होने से बड़ा घाटा होता है क्योंकि तुम ब्राह्मण सुधारने के लिए निमित्त बने हुए हो। अगर खुद ही नहीं सुधरे तो औरों को क्या सुधारेंगे। बहुत नुकसान हो पड़ता है। पाण्डव गवर्मेन्ट है ना। ऊंच ते ऊंच बाप है उनके साथ धर्मराज भी है। धर्मराज द्वारा बहुत बड़ी सज़ा खाते हैं। ऐसे कुछ कर्म करते हैं तो बहुत घाटा पड़ जाता है। हिसाब ही हिसाब है, बाबा के पास पूरा हिसाब रहता है। भक्ति मार्ग में भी हिसाब ही हिसाब है। कहते भी हैं भगवान तुम्हारा हिसाब लेगा। यहाँ बाप खुद कहते हैं धर्मराज बहुत हिसाब लेंगे। फिर उस समय क्या कर सकेंगे! साक्षात्कार होगा – हमने यह-यह किया। वहाँ तो थोड़ी मार पड़ती है, यहाँ तो बहुत मार खानी पड़ेगी। तुम बच्चों को सतयुग में गर्भ जेल में नहीं आना है। वहाँ तो गर्भ महल है। कोई पाप आदि करते नहीं। तो ऐसा राज्य-भाग्य पाने के लिए बच्चों को बहुत खबरदार होना है। कई बच्चे ब्राह्मणी (टीचर) से भी तीखे हो जाते हैं। तकदीर ब्राह्मणी से भी ऊंची हो जाती है। यह भी बाप ने समझाया है – अच्छी सर्विस नहीं करेंगे तो जन्म-जन्मान्तर दास-दासियाँ बनेंगे।

बाप सम्मुख आते ही बच्चों से पूछते हैं – बच्चे, देही-अभिमानी होकर बैठे हो? बाप के बच्चों प्रति महावाक्य हैं – बच्चे, आत्म-अभिमानी बनने का बहुत पुरूषार्थ करना है। घूमते फिरते भी विचार सागर मंथन करते रहना है। बहुत बच्चे हैं जो समझते हैं हम जल्दी-जल्दी इस नर्क की छी-छी दुनिया से जायें सुखधाम। बाप कहते हैं अच्छे-अच्छे महारथी योग में बहुत फेल हैं। उन्हों को भी पुरूषार्थ कराया जाता है। योग नहीं होगा तो एकदम गिर पड़ेंगे। नॉलेज तो बहुत सहज है। हिस्ट्री-जॉग्राफी सारी बुद्धि में आ जाती है। बहुत अच्छी-अच्छी बच्चियां हैं जो प्रदर्शनी समझाने में बड़ी तीखी हैं। परन्तु योग है नहीं, दैवीगुण भी नहीं हैं। कभी-कभी ख्याल होता है, अजुन क्या-क्या अवस्थायें हैं बच्चों की। दुनिया में कितना दु:ख है। जल्दी-जल्दी यह खत्म हो जाए। इन्तज़ार में बैठे हैं, जल्दी चलें सुखधाम। तड़फते रहते हैं। जैसे बाप से मिलने लिए तड़फते हैं, क्योंकि बाबा हमको स्वर्ग का रास्ता बताते हैं। ऐसे बाप को देखने लिए तड़फते हैं। समझते हैं ऐसे बाप के सम्मुख जाकर रोज़ मुरली सुनें। अभी तो समझते हो यहाँ कोई झंझट की बात नहीं रहती है। बाहर में रहने से तो सबसे तोड़ निभाना पड़ता है। नहीं तो खिटपिट हो जाए इसलिए सबको धीरज देते हैं। इसमें बड़ी गुप्त मेहनत है। याद की मेहनत कोई से पहुँचती नहीं। गुप्त याद में रहें तो बाप के डायरेक्शन पर भी चलें। देह-अभिमान के कारण बाप के डायरेक्शन पर चलते ही नहीं। कहता हूँ चार्ट बनाओ तो बहुत उन्नति होगी। यह किसने कहा? शिवबाबा ने। टीचर काम देते हैं तो करके आते हैं ना। यहाँ अच्छे-अच्छे बच्चों को भी माया करने नहीं देती। अच्छे-अच्छे बच्चों का चार्ट बाबा के पास आये तो बाबा बतायें देखो कैसे याद में रहते हो। समझते हैं हम आत्मायें आशिक, एक माशूक की हैं। वह जिस्मानी आशिक-माशूक तो अनेक प्रकार के होते हैं। तुम बहुत पुराने आशिक हो। अभी तुमको देही-अभिमानी बनना है। कुछ न कुछ सहन करना ही पड़ेगा। मिया मिट्ठू नहीं बनना है। बाबा ऐसे थोड़ेही कहते हड्डी दे दो। बाबा तो कहते हैं तन्दुरूस्ती अच्छी रखो तो सर्विस भी अच्छी रीति कर सकेंगे। बीमार होंगे तो पड़े रहेंगे। कोई-कोई हॉस्पिटल में भी समझाने की सर्विस करते हैं तो डॉक्टर लोग कहते हैं यह तो फ़रिश्ते हैं। चित्र साथ में ले जाते हैं। जो ऐसी-ऐसी सर्विस करते हैं उनको रहमदिल कहेंगे। सर्विस करते हैं तो कोई-कोई निकल पड़ते हैं। जितना-जितना याद बल में रहेंगे उतना मनुष्यों को तुम खीचेंगे, इसमें ही ताकत है। प्योरिटी फर्स्ट। कहा भी जाता है पहले प्योरिटी, पीस, पीछे प्रासपर्टी। याद के बल से ही तुम पवित्र होते हो। फिर है ज्ञान बल। याद में कमजोर मत बनो। याद में ही विघ्न पड़ेंगे। याद में रहने से तुम पवित्र भी बनेंगे और दैवीगुण भी आयेंगे। बाप की महिमा तो जानते हो ना। बाप कितना सुख देते हैं। 21 जन्मों के लिए तुमको सुख के लायक बनाते हैं। कभी भी किसको दु:ख नहीं देना चाहिए।

कई बच्चे डिससर्विस कर अपने आपको जैसे श्रापित करते हैं, दूसरों को बहुत तंग करते हैं। कपूत बच्चा बनते हैं तो अपने आपको आपेही श्रापित कर देते हैं। डिससर्विस करने से एकदम पट पड़ जाते हैं। बहुत बच्चे हैं जो विकार में गिर पड़ते हैं या क्रोध में आकर पढ़ाई छोड़ देते हैं। अनेक प्रकार के बच्चे यहाँ बैठे हैं। यहाँ से रिफ्रेश होकर जाते हैं तो भूल का पश्चाताप् करते हैं। फिर भी पश्चाताप् से कोई माफ नहीं हो सकता है। बाप कहते हैं क्षमा अपने पर आपेही करो। याद में रहो। बाप किसको क्षमा नहीं करते हैं। यह तो पढ़ाई है। बाप पढ़ाते हैं, बच्चों को अपने पर कृपा कर पढ़ना है। मैनर्स अच्छे रखने हैं। बाबा ब्राह्मणी को कहते हैं, रजिस्टर ले आओ। एक-एक का समाचार सुनकर समझानी दी जाती है। तो समझते हैं ब्राह्मणी ने रिपोर्ट दी है और ही जास्ती डिससर्विस करने लग पड़ते हैं। बड़ी मेहनत लगती है। माया बड़ी दुश्मन है। बन्दर से मन्दिर बनने नहीं देती है। ऊंच पद पाने के बदले और ही बिल्कुल नीचे गिर पड़ते हैं। फिर कभी उठ न सकें, मर पड़ते हैं। बाप बच्चों को बार-बार समझाते हैं यह बड़ी ऊंच मंजिल है, विश्व का मालिक बनना है। बड़े आदमी के बच्चे बड़ी रायॅल्टी से चलते हैं। कहाँ बाप की इज्जत न जाये। कहेंगे तुम्हारा बाप कितना अच्छा है, तुम कितने कपूत हो। तुम अपने बाप की इज्जत गँवा रहे हो! यहाँ तो हर एक अपनी इज्जत गँवाते हैं। बहुत सज़ायें खानी पड़ती हैं। बाबा वारनिंग देते हैं, बड़े खबरदार हो चलो। जेल बर्डस न बनो। जेल बर्डस भी यहाँ होते हैं, सतयुग में तो कोई भी जेल नहीं होता। फिर भी पढ़कर ऊंच पद पाना चाहिए। ग़फलत नहीं करो। किसको भी दु:ख मत दो। याद की यात्रा पर रहो। याद ही काम में आयेगी। प्रदर्शनी में भी मुख्य बात यही बताओ। बाप की याद से ही पावन बनेंगे। पावन बनने तो सब चाहते हैं। यह है ही पतित दुनिया। सर्व की सद्गति करने तो एक ही बाप आते हैं। क्राइस्ट, बुद्ध आदि कोई की सद्गति नहीं कर सकते। फिर ब्रह्मा का भी नाम लेते हैं। ब्रह्मा को भी सद्गति दाता नहीं कह सकते। जो देवी-देवता धर्म का निमित्त है। भल देवी-देवता धर्म की स्थापना तो शिवबाबा करते हैं फिर भी नाम तो है ना – ब्रह्मा-विष्णु-शंकर….। त्रिमूर्ति ब्रह्मा कह देते। बाप कहते हैं यह भी गुरू नहीं। गुरू तो एक ही है, उनके द्वारा तुम रूहानी गुरू बनते हो। बाकी वह है धर्म स्थापक। धर्म स्थापक को सद्गति दाता कैसे कह सकते, यह बड़ी डीप बातें हैं समझने की। अन्य धर्म स्थापक तो सिर्फ धर्म स्थापन करते हैं, जिसके पिछाड़ी सब आ जाते हैं, वह कोई सबको वापिस नहीं ले जा सकते। उनको तो पुनर्जन्म में आना ही है, सबके लिए यह समझानी है। एक भी गुरू सद्गति के लिए नहीं है। बाप समझाते हैं गुरू पतित-पावन एक ही है, वही सर्व के सद्गति दाता, लिबरेटर हैं, बताना चाहिए हमारा गुरू एक ही है, जो सद्गति देते हैं, शान्तिधाम, सुखधाम ले जाते हैं। सतयुग आदि में बहुत थोड़े होते हैं। वहाँ किसका राज्य था, चित्र तो दिखायेंगे ना। भारतवासी ही मानेंगे, देवताओं के पुजारी झट मानेंगे कि बरोबर यह तो स्वर्ग के मालिक हैं। स्वर्ग में इनका राज्य था। बाकी सब आत्मायें कहाँ थी? जरूर कहेंगे निराकारी दुनिया में थे। यह भी तुम अभी समझते हो। पहले कुछ भी पता नहीं था। अभी तुम्हारी बुद्धि में चक्र फिरता रहता है। बरोबर 5 हज़ार वर्ष पहले भारत में इनका राज्य था, जब ज्ञान की प्रालब्ध पूरी होती है तो फिर भक्ति मार्ग शुरू होता है फिर चाहिए पुरानी दुनिया से वैराग्य। बस अभी हम नई दुनिया में जायेंगे। पुरानी दुनिया से दिल उठ जाता है। वहाँ पति बच्चे आदि सब ऐसे मिलेंगे। बेहद का बाप तो हमको विश्व का मालिक बनाते हैं।

जो विश्व का मालिक बनने वाले बच्चे हैं, उनके ख्यालात बहुत ऊंचे और चलन बड़ी रॉयल होगी। भोजन भी बहुत कम, जास्ती हबच नहीं होनी चाहिए। याद में रहने वाले का भोजन भी बहुत सूक्ष्म होगा। बहुतों की खाने में भी बुद्धि चली जाती है। तुम बच्चों को तो खुशी है विश्व का मालिक बनने की। कहा जाता है खुशी जैसी खुराक नहीं। ऐसी खुशी में सदैव रहो तो खान-पान भी बहुत थोड़ा हो जाए। बहुत खाने से भारी हो जाते हैं फिर झुटका आदि खाते हैं। फिर कहते बाबा नींद आती है। भोजन सदैव एकरस होना चाहिए, ऐसे नहीं कि अच्छा भोजन है तो बहुत खाना चाहिए! अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हम दु:ख हर्ता सुख कर्ता बाप के बच्चे हैं, हमें किसी को दु:ख नहीं देना है। डिससर्विस कर अपने आपको श्रापित नहीं करना है।

2) अपने ख्यालात बड़े ऊंचे और रॉयल रखने हैं। रहमदिल बन सर्विस पर तत्पर रहना है। खाने-पीने की हबच (लालच) को छोड़ देना है।

वरदान:- ड्रामा की नॉलेज से अचल स्थिति बनाने वाले प्रकृति वा मायाजीत भव
प्रकृति वा माया द्वारा कैसा भी पेपर आये लेकिन जरा भी हलचल न हो। यह क्या, यह क्यों, यह क्वेश्चन भी उठा, जरा भी कोई समस्या वार करने वाली बन गई तो फेल हो जायेंगे इसलिए कुछ भी हो लेकिन अन्दर से यह आवाज निकले कि वाह मीठा ड्रामा वाह! हाय क्या हुआ – यह संकल्प भी न आये। ऐसी स्थिति हो जो कोई संकल्प में भी हलचल न हो। सदा अचल, अडोल स्थिति रहे तब प्रकृतिजीत व मायाजीत का वरदान प्राप्त होगा।
स्लोगन:- खुशखबरी सुनाकर खुशी दिलाना यही सबसे श्रेष्ठ कर्तव्य है।

TODAY MURLI 7 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 July 2018 :- Click Here

07/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are now sitting personally in front of the Father, Teacher and Satguru. The mercy of the Father is that He becomes your Teacher and teaches you and He becomes the Satguru and takes you back with Him.
Question: What have you promised the Father? What is your duty?
Answer: You have promised: Baba, whatever we hear from You, we will definitely tell that to others and make them equal to ourselves. Our duty is to teach everyone in the same way as the Father teaches us because the locks on our intellects have now opened. Just as we are claiming our inheritance, in the same way, we have to be merciful and enable others to claim their inheritance.
Song: Take blessings from the Mother and Father. 

Om shanti. You children are now sitting personally in front of the Mother and Father, that is, you children are sitting in a school with your Teacher. You children know that you are also sitting with the Satguru in order to listen to knowledge. To listen to whom? Only the Father is the Ocean of Knowledge. You know that He has come here from the supreme abode in order to give us teachings. Your intellects are connected to the supreme abode, the sweet home. Although He teaches you here, and the Mother and Father are personally sitting in front of you, your intellects’ yoga or remembrance is still directed to the land of nirvana. We have to return home with the Father. Then we will go to the home of Vishnu. That is a home and this is also a home. We have to go to the land of Krishna, the in-laws’ home. First of all, you have to remember the Father who makes you worthy. Parents make their daughter worthy, do they not, so that when she goes to her in-laws’ home, she would glorify her parents? The in-laws would say that the girl has very good qualities. You know that you are now sitting personally in front of the Supreme Father, the Supreme Soul, and that you are studying. The Father makes a lot of effort on the children. This is His mercy. If a son becomes a barrister, it would be said that his parents sustained him and educated him well. The mother and father are creators and also the directors. Sons would be attached to their father, whereas daughters would be attached to their mother because sons are to receive an inheritance from their father. A kumari would go and become a mother. You are now the decoration of the Brahmin clan. Brahmins are remembered. There are many children of Prajapita Brahma. You can even tell those brahmin priests: If you are mouth-born creations, then you are the mouth-born children of Brahma. Physical children take birth to their physical parents. When were you born through the mouth of Brahma? They wouldn’t be able to tell you. You know that you have been adopted through the lotus lips of Brahma practically. Shiv Baba has adopted you. You understand that you are personally here sitting in front of all three: the Father, Teacher and Guru. The Father teaches you manners. It is here that you have to become virtuous, full of all virtues like Shri Krishna by making effort. People don’t know who Radhe and Krishna were in their previous birth. Only you children know this. Those who were worthy of worship have become worshippers and will then become worthy of worship. Devotees are called worshippers. No one, apart from the Father, can give you the inheritance of changing from an ordinary man into Narayan or from a beggar to a prince. When someone asks you what you are doing, tell that person: I am studying with God, the Father. Each of you has the aim and objective in your intellect. We are claiming our unlimited inheritance from Baba. The inheritance of heaven is to become Lakshmi and Narayan or princes and princesses. You become princes and princesses here in this college. You know that you are studying to become the princes and princesses in the future new world. The new world is called the golden age. Those in the golden age and those in the iron age would be human beings anyway. It is human beings who receive knowledge; it would not be given to animals. Human beings had divine virtues and they became those with devilish traits and are now becoming those with divine virtues. You children have this in your intellects. This is an easy thing to understand. The cycle of 84 births is for Bharat. The secret of the cycle of 84 births will not sit in anyone else’s intellect. Krishna was the one who had the discus of self-realisation. Vishnu is the combined form of Lakshmi and Narayan. In their childhood, they were Radhe and Krishna. However, the discus is given to Krishna alone. They never show Radhe with a discus. They don’t even show Lakshmi with it. They show Narayan and Vishnu with it. Lakshmi is included in that. In fact, you are the spinners of the discus of self-realisation. You know that you are studying this wonderful study with God, the Father. He is the Ocean of Knowledge, the Seed of the human world, the Truth and the Living Being. A soul is said to be the truth and a living being. A body cannot be called the truth and a living being. Even though a baby in a womb is non-living for five months, it still continues to grow. Everything grows, but it is the soul of a human being that is great. Human beings are praised and they are defamed. It was printed in the newspaper that when the Prime Minister of England went to church he took his cat with him. Look how much respect the cat was given! You cannot even go there without a permit and yet the cat received a permit ! Many people say that even dogs remember God. They bark, don’t they? Those people also simply speak of God, but they don’t know anything. So, what is the difference between human beings and animals? You are now becoming so elevated. You will now be praised a lot. When your influence spreads in a practical way, they will say: That’s it! We have to go to the Brahma Kumaris. Brahma Kumars and Kumaris are the grandsons and granddaughters of Shiv Baba. There is only one Baba. There is one Mama and one Baba through whom you are created. You know that you are the grandsons and granddaughters of Shiv Baba. There is no question of being young or old here. You are grandchildren of Shiv Baba and children and grandchildren of Brahma. This is something so easy. This is the Brahmin clan. The Father is the Creator. You know that you children of Shiv Baba are the initial founders of this tree. This Brahma is sitting under the trunk, at the confluence age. You are the grandchildren of highest-on-high Shiv Baba. You are claiming your inheritance of heaven from Him. You should never forget this. You have to forget whatever you have, including your bodies, and become bodiless. We now have to return to our Grandfather and to our sweet home. We are grandsons and granddaughters of Shiv Baba. The father is also needed. We are truly Brahma Kumars and Kumaris. We are the grandchildren of Shiva and we receive our Grandfather’s inheritance. Only the sovereignty of the world is called the true sovereignty. You become the masters of the whole world. You are not afraid of anyone. That is called the undivided kingdom. There is no one else there. You become those who are full of all virtues, those who follow the supreme religion of non-violence. Baba has explained that there are two types of violence. One is violence and the other type is to use the sword of lust. We are doubly non-violent. There is no question of violence in the golden age; there is neither physical violence nor that of vice. It is said that there is the supreme deity religion of non-violence. We become members of that. We will become deities from Brahmins. Our name ‘human beings’ is then removed. We change from human beings to deities just as they become barristers or engineers etc. They themselves know how they become that. You know that you are becoming deities through this study. It is very easy. You have the knowledge of the beginning, the middle and the end of this tree of the of variety religions. No one else has this knowledge. You know that your Father and Teacher has come from the supreme abode to teach you. The supreme abode is so high up that even aeroplanescannot go there. Look how Baba comes without wings in order to teach us! So there should be that much happiness. Our Baba is also our Teacher. He resides in the supreme abode and comes from there to teach us. He has to do a lot of service. He also has to do the service of making the devotees happy. Devotees do not know Me. I serve them so much. I also fulfil the desires of those who do intense devotion; children have had visions of that. They sit there doing intense devotion and say: Krishna, just give me a vision! They have tears streaming down their faces. When they perform such intense devotion, I grant them a vision. That is the path of devotion. So, at this time, I also please them. I sit here and speak to you personally; I teach you. There truly are the versions of God. There is no doubt about this. It is also written in the Gita: O child, I am teaching you Raja Yoga to change you from an ordinary man into Narayan. However, they have inserted Krishna’s name. The Krishna soul is at this time in his last birth. He sits here and studies. It is not said: God Krishna speaks. You children know that the sun and moon dynasty kingdoms are being established. We will definitely make effort and claim the inheritance. Baba is so merciful. He comes and adopts us children. Children say: Baba, You are the same One and we are the same ones who have met once again. You are that same Baba and we are those same children of Yours. You have now come to give us our fortune of the kingdom. Baba is once again teaching us. We are the grandchildren of Shiva. The name ‘Prajapita Brahma’ is also glorified. You know that the Creator of heaven is only the Supreme Father, the Supreme Soul, and that the inheritance will be received from Him. Brahma also received it from Him. That Father is speaking to you Brahmins. He explains to you so clearly! So, why do you forget Him? You are sitting in Baba’s home. Baba Himself becomes the Teacher and teaches you. We are studying Raja Yoga. We will go to the land of peace and then go to the land of happiness. This iron-aged world is to be destroyed. We have to observe everything as detached observers as we did in the previous cycle. Just continue to see how you passed the examination and how destruction took place. See how you will take birth where there is victory. See how you will build your palaces. Your intellects are aware that there isn’t a golden Dwaraka down below which comes up above. They say that there was the golden Lanka of Ravan. There wasn’t really anything like that. It was the deities who had golden palaces. They don’t exist now. The boat of Bharat is now sunk. You children now salvage everyone from the ocean of poison, hell. There’s no question of steamers etc. You children of the Ocean were burnt to death. You became ugly by sitting on the pyre of lust. You were beautiful and then became ugly. You deities of Bharat were so beautiful. All of you are Shyam-Sundar (ugly and beautiful ones). You children know who it is you are sitting in front of. There is no other spiritual gathering where God, the Father, sits and teaches you Raja Yoga. The incorporeal Father must have entered someone’s body. How could He come as Shri Krishna? Yes, his soul is here, is it not? The locks on our intellects have now opened. You know that you become the masters of the world through Baba. You claim your inheritance. You are the ones who say “Mama, Baba”, and so you have to follow them in the study. This is why it is said: Follow Father. The real Father is needed, not an artificial one. Gandhiji too was called Bapuji (father), but no inheritance was received from him. That was a limited inheritance from a limited Bapuji; he would not be called unlimited. This unlimited Bapuji has come from the supreme abode. He makes you into the masters of heaven. You have now become knowersof the three aspects of time and you are the ones who become the masters of Paradise. You should have so much love for the unlimited Father. “I break away from everyone else and connect myself to You alone.” This is your promise to the Father. The Father sits here and explains to you children with so much love. What would anyone know about when Shiv Baba came, when it was Raksha Bandhan, and how the divine virtues were imbibed? People study the Gita and the scriptures and yet no one understands anything. You explain everything orally. There is no question of the scriptures in this. God sits here and teaches you. He taught you at the confluence age. You now listen to Him personally and so your intoxication rises. That intoxication should not decrease. It is not a human being who is teaching you this. The Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Ocean of Knowledge, is teaching you. All Brahma Kumars and Kumaris are listening to Him. You listen to Him and then relate that to others. Your agreement is that you will listen to Baba and definitely relate that to others. Otherwise, why do you listen? You have now become children of the unlimited Father. The Father says: Constantly remember Me alone. Renounce all your relationships including those with your own bodies. The Father is Shiva and you are saligrams: the Father and the children. The Father says: I am the Incorporeal. You too were incorporeal. You have come here to play your part s. You now have to go back home. Baba is the Master of Brahmand. You too were masters of Brahmand. That is also called the supreme abode (Paramdham), the land of nirvana, the incorporeal world. All of those are its names. The incorporeal world, the subtle region, the corporeal world: this cycle continues to turn in front of you. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Follow the Mother and Father in this study. Stay in the happiness that God has come from the highest-on-high land to teach us.
  2. You now have to return to your sweet home, so practise being bodiless. Forget everything including your body.
Blessing: May you have a right to instant and practical fruit and attain elevated salvation from the elevated directions at the confluence age.
The instant and practical fruit of the elevated actions that you perform at the confluence age on the basis of elevated directions, that is, the success of them, is attained at this time and this is why it is said, “As are the directions, so is the salvation”. Those people think that salvation is attained after they die, but you children have received the blessing for the fruit of success of every action in this final birth of dying alive, that is, you have received the blessing to receive salvation. You do not have to wait for the future. You do something now and you have a right to that attainment now. This is called the true love of the Creator for the creation.
Slogan: Those who follow the Father at every step with determination become complete and perfect.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 7 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 July 2018

To Read Murli 6 July 2018 :- Click Here
07-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – अभी तुम बाप, टीचर, सतगुरू – तीनों के सम्मुख बैठे हो, बाप की यही कृपा है जो टीचर बन तुम्हें पढ़ा रहे हैं, सतगुरू बन साथ में ले जायेंगे”
प्रश्नः- तुम बच्चों का बाप से कौन-सा वायदा है? तुम्हारा कर्तव्य क्या है?
उत्तर:- बाप से वायदा है – बाबा, हम आपसे जो कुछ सुनते हैं वह दूसरों को भी अवश्य सुनायेंगे। आप समान बनायेंगे। हमारा कर्तव्य है – बाप समान सबको पढ़ाना क्योंकि अभी बुद्धि का ताला खुला है। जैसे हम वर्सा ले रहे हैं ऐसे रहमदिल बन दूसरों को भी वर्सा दिलाना है।
गीत:- ले लो दुआयें माँ-बाप की……..

ओम् शान्ति। अभी बच्चे माँ-बाप के सम्मुख बैठे हुए हैं अथवा बच्चे स्कूल में टीचर के पास बैठे हुए हैं। बच्चे जानते हैं हम सतगुरू के पास भी बैठे हैं ज्ञान सुनने के लिए। किससे सुनने? ज्ञान सागर तो बाप ही है। जानते हैं वह परमधाम से पधारा हुआ है हमको शिक्षा देने। तुम्हारी बुद्धि परमधाम, स्वीट होम तरफ लगी हुई है। भल पढ़ाते तो यहाँ ही हैं, मात-पिता सम्मुख बैठे हैं तो भी बुद्धियोग अथवा याद निर्वाणधाम तरफ ही है। हमको बाप के साथ घर जाना है। फिर विष्णु के घर आयेंगे। वह भी घर है, यह भी घर है। कृष्णपुरी ससुरघर जाना है। पहले तो बाप जो लायक बनाते हैं उनको याद करना है। माँ-बाप कन्या को लायक बनाते हैं ना। ससुर घर जायेगी तो माँ-बाप का शो करेगी कि बच्ची तो बड़ी अच्छी सुलक्षणी है। अभी तुम जानते हो हम परमपिता परमात्मा के सम्मुख बैठे हैं, पढ़ रहे हैं। बाप बच्चों पर बहुत मेहनत करते हैं। यह है उनकी कृपा। बच्चा बैरिस्टर बनता है तो कहेंगे माँ-बाप ने अच्छी रीति पालना की है। पढ़ाया है। मात-पिता क्रियेटर भी होते हैं, डायरेक्टर भी होते हैं। मेल बच्चों का मोह बाप में जाता है। बच्ची का मोह माँ के पास जाता है क्योंकि बच्चों को बाप से वर्सा मिलना है। कुमारी तो जाकर माँ बनती है। अभी यहाँ तुम ब्राह्मण कुल भूषण हो। ब्राह्मण तो गाये जाते हैं। प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान तो बहुत हैं। उन ब्राह्मणों से भी तुम पूछ सकते हो – तुम मुख वंशावली हो तो ब्रह्मा की मुख सन्तान हो? कुख सन्तान तो लौकिक मात-पिता से जन्म लेते हैं। ब्रह्मा मुख से तुम कब पैदा हुए? बतला नहीं सकेंगे। तुम प्रैक्टिकल में जानते हो – हम ब्रह्मा मुख कमल से एडाप्ट हुए हैं। एडाप्ट किया है शिवबाबा ने। यहाँ तुम समझते हो – हम बाप-टीचर-गुरू तीनों के सम्मुख बैठे हुए हैं। बाप तो मैनर्स सिखलाते हैं – श्रीकृष्ण जैसे गुणवान, सर्वगुण सम्पन्न…….. यहाँ ही बनना है, पुरुषार्थ करके। मनुष्य तो यह नहीं जानते कि राधे-कृष्ण अगले जन्म में कौन थे? यह सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो। जो पूज्य थे वो ही पुजारी बने फिर पूज्य बनते हैं। पुजारी भक्त को कहा जाता है। नर से नारायण वा बेगर से प्रिन्स बनाने का वर्सा बाप बिगर कोई दे न सके। तुमसे अगर कोई पूछे – तुम क्या कर रहे हो? तो तुम बोलो – हम गॉड फादर द्वारा पढ़ रहे हैं। एम आब्जेक्ट तो हरेक की बुद्धि में है ना। हम बाबा से बेहद का वर्सा ले रहे हैं। स्वर्ग का वर्सा है ही लक्ष्मी-नारायण वा प्रिन्स-प्रिन्सेज बनना। यहाँ इस कॉलेज में तुम प्रिन्स-प्रिन्सेज बनते हो। जानते हो भविष्य नये विश्व का प्रिन्स-प्रिन्सेज बनने लिए हम पढ़ रहे हैं। नये विश्व को सतयुग कहा जाता है। सतयुग में अथवा कलियुग में होंगे तो मनुष्य ही ना। नॉलेज भी मनुष्य को मिलती है। जानवर को तो नहीं देंगे। मनुष्य दैवी गुण वाले थे। अभी आसुरी गुणों वाले बने हैं फिर हम दैवीगुण वाले बनते हैं। यह तुम बच्चों की बुद्धि में है। यह तो सहज समझने की बात है। 84 जन्मों का चक्र भी भारत के लिए ही है। 84 जन्मों के चक्र का राज़ और किसकी बुद्धि में नहीं बैठेगा। स्वदर्शन चक्र तो कृष्ण को था। विष्णु, लक्ष्मी-नारायण का कम्बाइन्ड रूप है। छोटेपन में राधे-कृष्ण थे। परन्तु वो भी सिर्फ कृष्ण को देते हैं। राधे को कभी चक्र नहीं दिखाते। लक्ष्मी को भी नहीं, सिर्फ नारायण को दिखाते हैं वा विष्णु को देते हैं। उसमें लक्ष्मी आ जाती है। वास्तव में स्वदर्शन चक्रधारी तुम हो।

तुम जानते हो हम बड़ी वन्डरफुल पढ़ाई पढ़ रहे हैं गॉड फादर से। वो ही ज्ञान का सागर, मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है, सत है, चैतन्य है। आत्मा को ही सत और चैतन्य कहा जाता है। शरीर को सत् और चैतन्य तो कह नहीं सकेंगे। बच्चे का शरीर 5 महीने तक जड़ होते भी गर्भ में वृद्धि को पाता रहता है। वृद्धि को तो हर चीज़ पाती ही है। परन्तु यह मनुष्य की आत्मा महान् है। मनुष्य की महिमा भी होती है तो मनुष्य की ग्लानी भी होती है। अखबार में छपा – इंगलैण्ड का प्राइम मिनिस्टर चर्च में गया तो साथ में बिल्ली को लेकर गया। देखो, बिल्ली का भी कितना मान होता है। वहाँ तुम भी बिना परमिट के नहीं जा सकते और बिल्ली को परमिट मिल जाती है। बहुत मनुष्य कहते हैं – कुत्ता भी भगवान् को याद करता है! बांग भरता है ना! वो भी गॉड सिर्फ कहते, जानते कुछ नहीं। तो मनुष्य और जानवर में क्या फ़र्क हुआ? तुम अब कितने ऊंच बनते हो। अभी तुम्हारी बहुत महिमा निकलेगी। प्रैक्टिकल में तुम्हारा जब प्रभाव निकलेगा तो कहेंगे – बस, ब्रह्माकुमारियों पास जाना है। ब्रह्माकुमार-कुमारियां शिव के पोत्रे और पोत्रियां हैं। बाबा तो एक है ना। मम्मा-बाबा एक हैं जिससे तुम रचे जाते हो। तुम जानते हो हम शिवबाबा के पोत्रे वा पोत्रियां हैं। इसमें बूढ़े वा जवान आदि की बात नहीं है। हम शिवबाबा के पोत्रे ब्रह्मा के पुत्र पोत्रे ठहरे। कितनी सहज बात है। यह ब्राह्मणों का कुल है ना। क्रियेटर तो बाप ही हुआ। तुम जानते हो हम शिवबाबा के बच्चे इस झाड़ के पहले-पहले फाउन्डर हैं। यह ब्रह्मा संगम पर थुर में बैठे हैं ना। हम ऊंच ते ऊंच शिवबाबा के पोत्रे हैं, उससे हम स्वर्ग का वर्सा पा रहे हैं। यह कभी भूलना नहीं चाहिए। देह सहित जो कुछ भी है सबको भूल अशरीरी बनना है। अभी हमको वापिस जाना है – डाडे के पास अथवा स्वीट होम जाना है। हम शिवबाबा के पोत्रे-पोत्रियां हैं। बाप भी तो जरूर चाहिए। बरोबर हम ब्रह्माकुमार कुमारियां हैं। शिव के पोत्रे हैं, डाडे का ही वर्सा मिलता है। विश्व की बादशाही को ही सच्चा स्वराज्य कहा जाता है। सारे विश्व का तुम मालिक बनते हो। कोई का डर नहीं। उसको अद्वेत राज्य कहा जाता है। वहाँ दूसरा कोई रहता नहीं। सर्वगुण सम्पन्न, अहिंसा परमो धर्म वाले बन जाते हैं। बाबा ने समझाया है – हिंसा दो प्रकार की होती है। एक वायोलेन्स की, दूसरी हिंसा है फिर काम कटारी चलाना। हम डबल अहिंसक हैं। सतयुग में हिंसा की बात नहीं होती। न जिस्मानी, न विकार की। अहिंसा परमो देवी-देवता धर्म कहते हैं। उसके हम भाती बनते हैं। ब्राह्मण से फिर हम देवता बनेंगे। हमारा मनुष्य नाम निकल जाता है। हम मनुष्य से देवता बनते हैं। जैसे बैरिस्टर, इन्जीनियर आदि बनते हैं। कैसे बने सो तो वह खुद ही जान सकते। तुम जानते हो इस पढ़ाई से देवता बनते हैं। बहुत सहज है। वैराइटी धर्मो का यह जो झाड़ है, उसके आदि-मध्य-अन्त का तुमको ज्ञान है, जो और कोई को नहीं है। तुम जानते हो हमारा बाप टीचर परमधाम से आये हैं – हमको पढ़ाने। परमधाम कितना ऊंच है। एरोप्लेन भी वहाँ जा न सके। बाबा बिगर पंख कैसे आकर पढ़ाते हैं, तो इतनी खुशी रहनी चाहिए। हमारा बाबा टीचर भी है। रहते हैं परमधाम में, वहाँ से आकर हमको पढ़ाते हैं। उनको तो बहुत ही सर्विस करनी है। भक्तों को भी राज़ी करने की सर्विस करनी होती है। भक्त मुझे नहीं जानते। उन्हों की मैं इतनी सर्विस करता हूँ, नौधा भक्ति वालों की भी दिल पूरी करता हूँ। जिसका भी साक्षात्कार बच्चों ने किया है। नौधा भक्ति में बैठते हैं – बस, कृष्ण दर्शन दो। आंखों से जारोज़ार आंसू बहाते रहते हैं। जब ऐसी तीव्र भक्ति करते हैं तब साक्षात्कार कराता हूँ। वह है भक्ति मार्ग। तो इस समय उन्हों को भी राज़ी करता हूँ। तुमको तो सम्मुख बैठ सुनाता हूँ, पढ़ाता हूँ। भगवानुवाच तो बरोबर है। इसमें कोई शक नहीं। गीता में भी लिखा हुआ है – हे बच्चे, तुमको नर से नारायण बनाने राजयोग सिखला रहा हूँ। परन्तु नाम कृष्ण का डाल दिया है। कृष्ण की आत्मा तो इस समय अन्तिम जन्म में है। वो बैठ पढ़ती है। कृष्ण भगवानुवाच नहीं है। बच्चे जानते हैं – बरोबर सूर्यवंशी चन्द्रवंशी राजधानी स्थापन हो रही है। हम पुरुषार्थ करके अवश्य वर्सा लेंगे। बाबा कितना रहमदिल है! आकर बच्चों को गोद लेते हैं। बच्चे कहते हैं – बाबा, आप वो ही हो, हम भी वही हैं, जो फिर से आकर मिले हैं। आप वही बाबा हैं, हम वही आपके बच्चे हैं। अब आप आये हो राज्य-भाग्य देने। बाबा फिर से हमको पढ़ा रहे हैं। हम शिव के पोत्रे-पोत्रियां हैं। प्रजापिता ब्रह्मा नाम भी बाला है। यह तो जानते हो – स्वर्ग का रचयिता परमपिता परमात्मा ही है, वर्सा उनसे मिलेगा। ब्रह्मा को भी उनसे मिला था। यह बाप तुम ब्राह्मणों से बात कर रहे हैं। कितना अच्छी रीति समझाते हैं। फिर भूल क्यों जाते हो? बाबा के घर में बैठे हैं। बाबा ही टीचर बन पढ़ाते हैं। हम राजयोग सीख रहे हैं। हम जायेंगे शान्तिधाम फिर आयेंगे सुखधाम। इस कलियुगी दुनिया का विनाश होना है। कल्प पहले मुआफिक तुमको साक्षी हो देखना पड़ता है। देखते चलो – कैसे इम्तहान पास किया, कैसे विनाश हुआ? फिर जहाँ जीत, वहाँ जन्म कैसे होता है? कैसे महल आदि बनायेंगे? बुद्धि में है – ऐसे नहीं, सोने की द्वारिका कोई नीचे पड़ी है, वह निकल आयेगी। कहते हैं – रावण की भी सोने की लंका थी। ऐसे तो कुछ है नहीं। सोने के महल तो देवताओं के होते हैं। अभी तो नहीं है। अभी तो भारत का बेड़ा ही गर्क हो गया है। अब तुम बच्चे सैलवेज करते हो नर्क रूपी विषय सागर से। बाकी स्टीम्बर आदि की कोई बात नहीं है। तुम सागर के बच्चे जल मर भस्म हो गये थे। काम चिता पर बैठ काले बन गये थे। तुम सुन्दर थे फिर सांवरे बन गये। भारत के तुम देवी-देवतायें कितने सुन्दर थे! तुम सब श्याम-सुन्दर हो। बच्चे जानते हैं – हम किसके आगे बैठे है? ऐसा कोई सतसंग नहीं होगा जहाँ गॉड फादर बैठ राजयोग सिखलाते हैं। निराकार बाप किसके तो शरीर में आये हैं ना। श्रीकृष्ण जैसा कैसे आयेगा। हाँ, उनकी आत्मा तो यहाँ ही है ना।

अभी तुम्हारी बुद्धि का ताला खुला है। जानते हो हम बाबा से विश्व के मालिक बनते हैं। वर्सा लेते हैं। तुम ही मम्मा-बाबा कहते हो तो तुम्हें पढ़ाई में फालो करना है इसलिए गाया जाता है – फालो फादर। सच्चा फादर चाहिए ना, आर्टीफिशल तो नहीं! गांधी को भी बापू जी कहते थे परन्तु वर्सा तो कुछ भी नहीं मिला। वो हुआ हद के बापू जी से हद का वर्सा। उनको बेहद का नहीं कहेगे। यह बेहद का बापू जी तो परमधाम से आये हैं। तुमको स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। तुम अब त्रिकालदर्शी बने हो और तुम ही वैकुण्ठ के मालिक बनते हो। बेहद के बाप में कितना लव रहना चाहिए! और संग तोड़ एक तुम संग जोडूँ। यह तुम्हारी प्रतिज्ञा बाप के साथ है। कितना प्यार से बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं! और कोई क्या जाने शिवबाबा कब आये? रक्षाबंधन कब हुआ? दैवीगुण धारण कैसे किये? गीता शास्त्र पढ़ते-सुनते हैं परन्तु समझते कुछ भी नहीं। तुम्हारा है ओरली। इसमें शास्त्रों आदि की बात नहीं। भगवान् बैठ सिखलाते है। संगम पर ही सिखाया था। अभी तुम सम्मुख सुनते हो तो नशा चढ़ता है। फिर वह नशा कम नहीं होना चाहिए। यह कोई मनुष्य नहीं पढ़ाते हैं। परमपिता परमात्मा जो ज्ञान का सागर है, वह पढ़ा रहे हैं। ब्रह्माकुमार-कुमारियां सब सुन रहे हैं। सुनकर फिर औरों को सुनाते हो। तुम्हारी एग्रीमेंट है – बाबा से सुनकर फिर सुनायेंगे जरूर। नहीं तो सुना किसलिए है! अब तुम बेहद बाप के बच्चे बने हो। बाप कहते है – मामेकम् याद करो। देह सहित देह के सभी सम्बन्ध आदि छोड़ो। बाप शिव, तुम हो सालिग्राम। बाप और बच्चे। बाप कहते हैं – हम निराकारी, तुम भी निराकारी थे। फिर यहाँ पार्ट बजाने आये हो। अब फिर जाना है वापिस। बाबा ब्रह्माण्ड का मालिक है। तुम भी ब्रह्माण्ड के मालिक थे। जिसको परमधाम, निर्वाणधाम, मूलवतन आदि कहते हैं। यह सब नाम हैं। मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन – यह सामने चक्र फिरता रहता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पढ़ाई में मात-पिता को फालो करना है। खुशी में रहना है कि ऊंचे ते ऊंचे धाम से भगवान् हमें पढ़ाने आते हैं।

2) अब हमें वापस स्वीटहोम जाना है, इसलिए अशरीरी बनने का अभ्यास करना है। देह सहित सब कुछ भूल जाना है।

वरदान:- संगमयुग पर श्रेष्ठ मत द्वारा श्रेष्ठ गति को प्राप्त करने वाले प्रत्यक्ष फल के अधिकारी भव
संगमयुग पर श्रेष्ठ मत के आधार पर जो श्रेष्ठ कर्म करते हो उसका प्रत्यक्षफल अर्थात् सफलता अभी ही प्राप्त होती है, इसलिए कहते हैं जैसी मत वैसी गत। वो लोग समझते हैं मरने के बाद गति मिलेगी लेकिन आप बच्चों को इस अन्तिम मरजीवा जन्म में हर कर्म की सफलता का फल अर्थात् गति प्राप्त होने का वरदान मिला हुआ है। आप भविष्य की इंतजार में नहीं रहते। अभी-अभी करते और अभी-अभी प्राप्ति का अधिकार मिल जाता – इसको ही कहते हैं रचयिता का रचना से सच्चा प्यार।
स्लोगन:- दृढ़ संकल्प से हर कदम में बाप को फालो करने वाले ही सम्पन्न बनते हैं।

TODAY MURLI 7 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 6 July 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_1]

 

 

07/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, do the same business that the Father does of making impure ones pure, for only then will you be seated in the Father’s heart.
Question: What are the signs of the children who are easily able to imbibe virtues?
Answer: The children who remove their intellect’s yoga from their old friends, relatives and the old world and become conquerors of attachment are easily able to imbibe all virtues. They never defame anyone and spoil the hearts of one another. They follow the Father completely. They give the proof of the service they have done of making ugly ones beautiful, salty ones sweet and impure ones pure. They always remain cheerful.
Song: Who created this game, did everything and hid Himself away?

 

Om shanti. You children know that you are now God’s children and His community. Before that you belonged to the devilish community. We have now received God’s directions. What do God’s directions teach you? To make impure ones pure. Now, each one of you should continue to ask your heart: Now that I am a child of the Purifier, am I doing the same business that the Father does or not? In the world, the business of a father is different from his child’s. There are so many types of business. There are so many types of direction. The directions of a father would be different from the directions of his child. These are God’s directions. You now know the Father. The world simply sings this; they don’t know how the Purifier Father comes and makes you pure. You know that the Purifier Father is purifying you and making you into the masters of pure heaven. Here, you only have the one direction. Only the Father comes and gives you the most elevated directions of all. Those who have faith that they are the children of God should ask their heart. Those who don’t have faith won’t even be able to do this business. Those who don’t even belong to the Father cannot do this business. You children understand that your aim and objective is to become pure. You have the picture placed in front of you: to become Narayan from an ordinary man and Lakshmi from an ordinary woman. We have now become part of the dynasty of Lakshmi and Narayan. The Father has come to purify us, so check whether you are carrying out the Father’s task or not. What did the Father do? He opened this hospital cum university. This is also the task of the children. In the beginning when the Father came, the building was small. It was even smaller than Mama’s room. It was in there that the Supreme Father, the Supreme Soul, came and opened a hospital cum university. Then, gradually, more buildings were built. In the beginning, there was just one house in a small street. They gradually continued to increase. So, this is also the children’s duty. Teachings also have to be given. Only those who are educated would open a university. Yes, even uneducated ones can open one. They would open it and hand it over to those who study and teach others. You just become a principal and run it and many will benefit through this. The Father says: The business of you Brahmins is to make impure ones pure and not do anything impure. Never indulge in vice. To tell someone to become pure is very good. It has been explained that impure ones bow their heads in front of pure ones. When the path of devotion first began, sannyasis didn’t exist; they came later. At that time sannyasis didn’t give knowledge. The concept of omnipresence emerged later. Previously, they used to say: We neither know God or God’s creation; nor did they believe that He was the Father. How then could the Father be omnipresent? The Father now continues to explain to you. The notion of omnipresence has made the people of Bharat poverty-stricken and turn away from Him and become atheists and orphans. You now belong to the Lord and Master. Therefore, now make effort to make other orphans belong to the Lord and Master. Those who come here as guides make others belong to the Lord and Master and bring them to Him. They also have the pull that they truly do receive the unlimited inheritance from the unlimited Father, the Lord and Master. The unlimited inheritance is the sovereignty of unlimited heaven. A limited inheritance is in hell and there is sorrow in hell. That is why this is not called sovereignty but a ‘donkeyship’. You children should now do the Father’s service: you have to make impure ones pure. How to make impure ones pure is the business you should do throughout the whole day. Firstly, there is the question: Have I become pure myself? Do I have any vices? Do I have that much love for the Supreme Father, the Supreme Soul? If I love Him, what is the proof of that love? The proof is to remain engaged in the business of making impure ones pure. If you do not do this business, neither have you, yourself, become pure nor are you able to make others pure. If you don’t do this business, you won’t be able to claim a high status. This is a deal of every cycle. It would be understood that it is not in your fortune. You found God and you still didn’t learn how to do this business! Only those who do the business of purifying others will be able to sit in the Father’s heart. You have to make effort to change human beings into deities, from shells into diamonds. Baba and Mama are making that same effort. Baba also goes on service. He enters the bodies of some children and shows the way to become pure from impure. Therefore, check whether you do service in the same way as the Father. If you do not do that, you cannot sit in His heart. Some become trapped in attachment. There should be constant love for the Father and you also have to show that you have become a conqueror of attachment. All attachment should be removed from your old friends and relatives and the old world. Only when that has been removed can you imbibe virtues. Just look at what some children continue to do throughout the day! They spoil the hearts of one another; they continue to defame others. “Such-and-such a person is like this.” “This one is like that.” First of all, look what you yourself are doing! Do I continue to follow the Father? Only when you follow Him will your mercury of happiness rise. Those who do service always remain happy and cheerful. Their names are glorified. The Father says: You have to have simplicity. You have to wear clothes with eight patches. Such a time will also come. Such a time will come when it will be very difficult to find even torn clothes to wear. Therefore, you should remove all attachment from that. Remove your intellect’s yoga from all impure friends and relationships. It is now your stage of ascent. There has to be proof of this too. Those who come as guides give the proof. You have to become worthy of doing service. It shouldn’t be that you do disservice and that you continue to quarrel among yourselves by being like salt water. The status of those who do disservice is destroyed. People are like salt water with other people to such an extent, don’t even ask! Your business is to make them very sweet. Sometimes, you find some who are so much like salt water that you can only say that it is their destiny. This also has to be tolerated. We still have to transform those who are salty and make them sweet with love. Look, the sun has so much power that it draws water from the salty ocean and makes that water sweet. This is also their service. This is why they speak of Deity Indra (God of Rain). He showers rain. Therefore, you children should also have that much power. It shouldn’t be that you make them even more salty. Some even make others salty. Their faces reveal this. The face of a salty person is ugly and the face of a sweet person is beautiful. You yourselves have to become beautiful and make ugly ones beautiful. The Father comes from so far away and teaches you how to do this service. The Father’s service is to make impure ones pure. If you purify many others, Baba will give you a prize. Ask your heart how many you make beautiful. If you do not make anyone that, you would definitely perform impure actions. By not following the Father’s directions, you would only perform impure actions. You will then have to bow down to those who make others pure. Those who have that strength would say: Baba, you can send me anywhere You want. Many hospitals can be opened. However, the doctors have to be very good too. Some doctors are such that they give wrong medicine to patients and kill them. Here, this is God’s court. The Father has everyone’s account. He is Antaryami, the One who knows everything within. He knows what is inside all the children. This one is baharyami, the one who knows everything external. This one also continues to make effort to make others pure. Those who don’t become pure will experience punishment and go to their own sections. Everyone has to play their own part. You have to come down, numberwise. They will all come sooner or later. No one can return home in between. As is a tree, so the fruit it bears. There cannot be any difference in that. The tree has now spread. Some have been converted to other religions. You cannot know what the number is in each one’s nationality. Everyone’s customs and systems are their own. You know that you were in the incorporeal world, and that everyone will settle their karmic accounts, numberwise, according to their efforts and then go and reside there. Up above is the tree of incorporeal souls. How much space would they be taking up? It would be very little. The element of the sky is so big. Compared to that, human beings live in such a small space. You can understand that people live in just this much space. There wouldn’t be human beings living in the ocean. Human beings are only on land. You cannot measure the depth of the ocean; it’s impossible. They try to go up above, but that is infinite. People call out to the Father to come and purify the impure. It isn’t that you want to go up to the element of sky and measure it. Even when we souls reside up above, we take up very little space. The element of the sky is so vast. It isn’t that God would be sitting up there trying to work out how big the element of the sky is. He cannot even have that thought in His intellect. His intellect is aware of the part He has to play. It isn’t that He would have to find out about the great element. He just goes from here and stays in His place. He doesn’t try to do anything there. Baba says: I do not try to do any of those things. That is infinite. OK, what would be the benefit of trying to find out the end? There would be no benefit at all. Only in making impure ones pure is there benefit. Souls come here from the land of nirvana to play their part s. The Father also comes and plays His part. That is the land of silence. There, there is no thought to see this or that. Look at what people here do. They make so much effort to try to find the end. You children know that there is very little time left. The war will take place and then all their noise etc. will end. All their going up above and coming down will end. They are all wasting their money. There is no benefit in that at all. For instance, when someone goes there and comes and relates what he saw there, that is a waste of time, a waste of money and a waste of energy. This is the condition of everyone except you children, and especially of those who continue to make effort to go and give the Father’s introduction to others so that they can claim their inheritance from the Father. The Father has the highest part in the drama. He has to make us worthy for the establishment of the new world. It is now the end of the world. No matter how much people beat their heads, they continue to wastetheir time. Even if someone reaches the top of Mount Everest and stands there, what is the benefit of that? He doesn’t receive liberation or liberation-in-life. In any case, there is only sorrow in the world. Your intellects have now become solvent. You make effort to make others equal to you. Explain this to the teachersand principal of a school: You don’t teach unlimited history and geography. How does it become the silver, copper and iron ages from the golden age? This is unlimited history and geography. By knowing this, you will become rulers of the globe. We are explaining the history and geography of this world, of how the cycle continues to turn. Come and we will give you the introduction of the Supreme Father, the Supreme Soul, who is also called the incorporeal One. Come and we will tell you His biography. Brahm yogis only give knowledge of the brahm element. They say that brahm is omnipresent. God is knowledge-full. He is the Ocean of Knowledge. The elements cannot be called the Ocean of Knowledge. The Father makes the children into oceans of knowledge, the same as He is. How could those elements make you the same as they are. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Give the proof of the stage of ascent. Remove your attachment from everyone and become worthy of service. Check your own self. Don’t defame others and spoil the hearts of one another. Don’t perform any impure actions.
  2. Become as merciful as the Father. Make effort to become like a diamond from a shell. Serve to make salt water sweet, that is, to make a salty person sweet.
Blessing: May you be a master bestower and distribute the treasure of happiness and be worthy to receive everyone’s blessings.
At present, everyone needs imperishable happiness. All are beggars of peace whereas you are the children of the Bestower. The duty of the children of the Bestower is to give. Whoever comes into a connection or a relationship with you, continue to donate happiness to them. Let no one return empty; remain full to this extent. At every moment, check whether you are giving something as a master bestower or whether you are just happy in yourself. The more you give to others, the more you will be worthy of receiving everyone’s blessings and these blessings will make you an easy effort-maker.
Slogan: Remember the attainments of the confluence age and you will not remember things of sorrow or distress.

*** Om Shanti ***

 

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 5 July 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 7 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 July 2017

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 6 July 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_1]

 

07/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप समान पतितों को पावन बनाने का धन्धा करो, तब ही बाप की दिल पर चढ़ेंगे”
प्रश्नः- किन बच्चों में गुणों की धारणा सहज होती है, उनकी निशानियां क्या होंगी?
उत्तर:- जो बच्चे पुराने मित्र सम्बन्धियों से, पुरानी दुनिया से बुद्धियोग निकाल नष्टोमोहा बनते हैं उनमें सर्व गुणों की धारणा सहज होती है। वह कभी किसी की निंदा करके एक दो की दिल खराब नहीं करते। बाप को पूरा-पूरा फालो करते हैं। सांवरे को गोरा, खारे को मीठा और पतितों को पावन बनाने की सेवा का सबूत देते हैं। सदा हर्षित रहते हैं।
गीत:- किसने यह सब खेल रचाया….

 

ओम् शान्ति। तुम बच्चे जानते हो कि हम अभी ईश्वरीय सन्तान वा सम्प्रदाय हैं, उसके पहले हम आसुरी सम्प्रदाय थे। अभी हमको ईश्वरीय मत मिलती है। ईश्वरीय मत क्या सिखाती है? पतितों को पावन बनाना। अब हर एक अपनी दिल से पूछते रहें, जबकि हम पतित-पावन की सन्तान हैं तो अभी हम बाप का धन्धा करते हैं या नहीं! दुनिया में तो बाप का धन्धा अलग तो बच्चों का धन्धा अलग-अलग होता है। अनेक प्रकार के धन्धे हैं। अनेक प्रकार की मतें हैं। बाप की मत अलग तो बच्चे की मत अलग। यह फिर है ईश्वरीय मत। तुम बाप को जानते हो। दुनिया सिर्फ गाती है, जानती नहीं है कि कैसे पतित-पावन बाप आकर पावन बनाते हैं। तुम जानते हो पतित-पावन बाप हमको पावन बनाए, पावन स्वर्ग का मालिक बना रहे हैं। यहाँ तुम्हारी है ही एक मत। श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ मत बाप ही आकर देते हैं। जो अपने को ईश्वरीय औलाद निश्चय करते हैं, उनको अपनी दिल से पूछना है। जो निश्चय ही नहीं करते उनसे यह धन्धा हो भी नहीं सकेगा। जो बाप के बने ही नहीं, वह यह धन्धा कर न सकें। बच्चे समझते हैं हमारी एम आबजेक्ट ही है पावन बनना। चित्र भी सामने रखे हैं। नर से नारायण और नारी से लक्ष्मी बनना। लक्ष्मी-नारायण की डिनॉयस्टी के हम बनें। बाप आया है – हमको पावन बनाने, तो अपने को देखना है कि हम बाप का कर्तव्य कर रहे हैं या नहीं? बाप ने क्या किया? यह हॉस्पिटल वा युनिवर्सिटी खोली। बच्चों का भी यही काम है। शुरू-शुरू में जब बाप आया तो मकान तो छोटा ही था। मम्मा के कमरे से भी छोटा था। उसमें ही आकर परमपिता परमात्मा ने हॉस्पिटल अथवा युनिवर्सिटी खोली फिर धीरे-धीरे मकान आदि बनते गये। पहले तो एक छोटी सी गली में मकान था। धीरे-धीरे बढ़ता गया। तो बच्चों का भी यही कर्तव्य है। फिर शिक्षा भी देनी पड़े। पढ़ा लिखा ही युनिवर्सिटी खोलेगा ना। हाँ अनाड़ी भी खोल सकते हैं। खोलकर जो पढ़ने पढ़ाने जाते हैं उनको देंगे। आप प्रिन्सीपल बन चलाओ, जिससे बहुतों का कल्याण हो। बाप भी कहते हैं तुम ब्राह्मणों का धन्धा ही है पतितों को पावन बनाना, कोई पतित कार्य नहीं करना। कभी विकार में नहीं जाना। किसको कहना कि पवित्र बनो तो बहुत अच्छा है। समझाया जाता है पवित्र के आगे अपवित्र लोग माथा तो टेकते ही हैं। पहले-पहले जब भक्ति मार्ग शुरू हुआ तब सन्यासी नहीं थे। वह तो बाद में आये हैं, उस समय सन्यासी कोई ज्ञान नहीं देते थे। यह तो पीछे सर्वव्यापी का ज्ञान निकला है। पहले तो कहते थे – हम ईश्वर और ईश्वर की रचना को नहीं जानते हैं। ना ही समझते थे कि वह बाप है। बाप फिर सर्वव्यापी कैसे हो सकता। अब बाप तुम बच्चों को समझाते रहते हैं। सर्वव्यापी के ज्ञान ने ही भारत को कंगाल, बेमुख, नास्तिक, निधनका बना दिया है। अब तुम धनके बने हो, फिर और निधनको को धणका बनाने का पुरुषार्थ करो। जो पण्डा बन आते हैं तो धनका बनाकर धनी के पास ले जाते हैं ना। उनको भी कशिश होती है कि बरोबर धनी बेहद के बाप से हमको बेहद का वर्सा मिलता है। बेहद का वर्सा है – बेहद स्वर्ग की बादशाही। हद का वर्सा है नर्क। नर्क में दु:ख है इसलिए इसको बादशाही नहीं कहेंगे, गदाई कहेंगे। अब बच्चों को बाप की सेवा करनी चाहिए। पतितों को पावन बनाना है। सारा दिन यही धन्धा करना चाहिए – पतितों को पावन कैसे बनायें। पहले तो प्रश्न है कि हम खुद पावन बनें हैं? हमारे में कोई विकार तो नहीं हैं? हमारा परमपिता परमात्मा के साथ इतना लव है, अगर लव है तो लव का सबूत कहाँ? सबूत है पतितों को पावन बनाने के धन्धे में रहना। यह धन्धा नहीं करते हैं तो गोया न खुद पावन बने हैं, न बना सकते हैं। यह धन्धा नहीं करते हैं तो ऊंच पद नहीं पा सकेंगे। कल्प-कल्पान्तर की बाजी हो जायेगी। समझेंगे कि इनकी तकदीर में नहीं है। ईश्वर को पाया भी फिर भी यह धन्धा न सीखे। बाप के दिल पर वह चढ़ेंगे जो पावन बनाने का धन्धा करेंगे। मनुष्यों को कौड़ी से हीरे जैसा देवता बनाने का पुरुषार्थ करना होता है। बाबा मम्मा भी वही पुरुषार्थ करते हैं। बाबा भी सर्विस पर जाते हैं, बच्चों के तन में विराजमान हो पतितों को पावन बनाने का रास्ता बताते हैं, तो अपने को देखना चाहिए कि हम उन जैसी सर्विस करते हैं। अगर नहीं करते तो दिल पर चढ़ नहीं सकते। कई तो मोह वश फँसे हुए रहते हैं। बाप से तो एकरस लव होना चाहिए ना और सबसे नष्टोमोहा होकर दिखाना है। पुराने मित्र सम्बन्धियों, पुरानी दुनिया से मोह निकल जाना चाहिए। जब वह निकले तब गुण धारण हों। कई बच्चे तो सारा दिन क्या करते रहते हैं। एक दो के दिल को खराब करते, निंदा करते रहते हैं। फलाने ऐसे हैं – यह ऐसा है। पहले तो अपने को देखना है, हम क्या करते हैं? बाप को हम फालो करते रहते हैं? फालो करें तब खुशी का पारा चढ़े। सर्विस करने वाले खुशी में सदैव हर्षित रहते हैं। नाम तो निकलता है ना। बाप कहते हैं तुमको तो वनवाह में रहना है। 8 चत्तियों वाला कपड़ा पहनना है। ऐसा समय भी आना है। ऐसे तकलीफ होगी जो टूटा फूटा कपड़ा भी मुश्किल मिलेगा – पहनने के लिए इसलिए इन सबसे ममत्व मिटा देना चाहिए। जो भी आसुरी मित्र सम्बन्धी आदि हैं उनसे बुद्धियोग हटाना है। अपनी चढ़ती कला है, उसका भी सबूत चाहिए ना। जो पण्डे बन आते हैं, वह सबूत देते हैं। सर्विस लायक बनना है। ऐसे नहीं डिससर्विस करे, लून पानी हो आपस में ही झगड़ते रहें। डिससर्विस करने वाले का पद भ्रष्ट हो जाता है। मनुष्य-मनुष्य में कितने लून पानी हो रहते हैं। बात मत पूछो। तुम्हारा धन्धा है उनको बहुत मीठा बनाना। कोई ऐसे फिर लूनपानी बनने वाले मिल जाते हैं तो कहते हैं भावी। यह भी सहन करना है। हमको फिर भी प्यार से नमक को चेंज कर मीठा बनाना है। देखो सूर्य में कितनी ताकत है, जो खारे सागर से पानी खींचकर मीठा बना देते हैं। यह भी उन्हों की सर्विस है ना इसलिए इन्द्र देवता कहते हैं, वर्षा बरसाते हैं। तो बच्चों में भी इतनी ताकत होनी चाहिए। ऐसे नहीं कि और ही खारे बना दें। कोई-कोई तो खारा भी बना देते हैं। उनकी शक्ल ही प्रत्यक्ष हो जाती है। खारे की शक्ल सांवरी, मीठे की शक्ल गोरी। तुमको तो खुद गोरा बन और सांवरों को भी गोरा बनाना है। बाप कितनी दूर से आकर यह सर्विस सिखलाते हैं। बाप की सर्विस ही यही है, पतितों को पावन बनाना। बहुतों को पावन बनायेंगे तो बाबा इनाम भी देंगे। दिल से पूछना है हम कितनों को गोरा बनाते हैं। अगर नहीं बनाते हैं तो जरूर कोई कुकर्म करते हैं। बाप की मत पर न चलने से कुकर्म ही करते हैं। फिर पावन बनाने वालों के आगे भरी ढोनी पड़ेगी। जिनमें ताकत है वह कहेंगे बाबा भल हमें कहीं भेज दो। हॉस्पिटल तो बहुत खुल सकते हैं, परन्तु डॉक्टर्स भी अच्छे होने चाहिए ना। कोई ऐसे भी डॉक्टर होते हैं जो उल्टी सुल्टी दवाई दे मार भी देते हैं। यहाँ तो यह ईश्वरीय दरबार है। सबका खाता बाप के पास है। वह तो अन्तर्यामी है ना। सभी बच्चों के अन्दर को जानते हैं। यह तो बाहरयामी है। यह भी औरों को पावन बनाने का पुरुषार्थ करते रहते हैं। जो पावन नहीं बनते वह सजायें भोग अपने-अपने सेक्शन में चले जायेंगे। सबको अपना-अपना पार्ट बजाना है। नम्बरवार आना है। आगे वा पीछे आते हैं ना। बीच से तो नहीं निकल आयेंगे। जैसे झाड़ होगा वैसा ही फल लगेगा, उसमें फ़र्क नहीं पड़ सकता। अभी झाड़ बिखरा हुआ है। कोई-कोई किस-किस धर्म में कनवर्ट हो गये हैं। हर एक नेशनल्टी की संख्या कितनी है, समझ नहीं सकते। हर एक की रसम-रिवाज अपनी-अपनी है। तुम जानते हो जैसे मूलवतन में थे। नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार हिसाब-किताब चुक्तू कर वहाँ जाए सभी को रहना है। ऊपर में निराकार आत्माओं का झाड़ है। कितनी स्पेस लेते होंगे। बहुत थोड़ी होगी। जैसे पोलार आकाश तत्व तो बहुत लम्बा है। मनुष्य कितनी थोड़ी स्पेस में रहते हैं। समझ में आता है – इतने तक मनुष्य हैं। सागर में तो मनुष्य नहीं रहते होंगे। धरती पर ही मनुष्य हैं। सागर का तो अन्त ले नहीं सकेंगे। इम्पासिबुल है। ऊपर जाने की कोशिश करते हैं। परन्तु है तो बेअन्त ना। बाप को बुलाते हैं कि आकर पतित से पावन बनाओ। ऐसे नहीं कि हम वहाँ जाकर आकाश तत्व का अन्त लेवें। हम आत्मायें ऊपर में रहती हैं। तो भी स्पेस थोड़ी लेते हैं। आकाश तत्व तो बड़ा है। ऐसे नहीं, ईश्वर वहाँ बैठ ट्रायल करेंगे कि देखें कि आकाश तत्व कितना लम्बा है। यह कब बुद्धि में ख्याल भी नहीं आ सकता। उनकी बुद्धि में है ही पार्ट बजाने का। ऐसे नहीं कि महतत्व का पता लगाना होगा। यहाँ से गया और अपनी जगह ठहरा। वहाँ कोशिश कुछ नहीं करता है। बाबा कहते हैं मैं थोड़ेही यह कोशिश करता हूँ। यह तो बेअन्त है। अच्छा अन्त पाने से फायदा ही क्या? कुछ भी फायदा नहीं। फायदा है ही पतितों को पावन बनाने में। आत्मायें निर्वाणधाम से आकर यहाँ पार्ट बजाती हैं। बाप भी आकर पार्ट बजाते हैं। वह है शान्तिधाम। वहाँ यह कोई संकल्प नहीं आता कि यह देखें वो देखें। यहाँ मनुष्य क्या-क्या करते हैं। कितनी मेहनत से अन्त लेने जाते हैं। बच्चों को पता है समय बहुत थोड़ा है। लड़ाई लग जायेगी फिर उन्हों का आवाज आदि सब बन्द हो जायेगा। ऊपर में आना-जाना बंद हो जायेगा। यह सब तो पैसे बरबाद कर रहे हैं। फायदा कुछ भी नहीं। समझो कोई जाते हैं, क्या भी आकर बताते हैं, इसमें वेस्ट आफ टाइम, वेस्ट आफ मनी, वेस्ट आफ एनर्जी। सबका यही हाल है, सिवाए तुम बच्चों के। सो भी जो पुरुषार्थ करते रहते हैं कि हम जाकर बाप का परिचय देवें, तो बाप से वर्सा ले लेवे। बाप का ड्रामा में हाइएस्ट पार्ट है, नई दुनिया की स्थापना कर उसके लायक बनाना। अब तो सृष्टि का अन्त आ गया है। कितना भी लोग माथा मारते रहते हैं। टाइम वेस्ट करते हैं, एवरेस्ट पर मानों जाकर खड़े हो जाते हैं फिर भी फायदा क्या? मुक्ति जीवनमुक्ति तो मिलती नहीं। बाकी दुनिया में तो दु:ख ही दु:ख है। तुम्हारी बुद्धि अब सालवेन्ट बन गई है। तुम पुरुषार्थ करते हो औरों को आप समान बनाने का। स्कूल के टीचर्स प्रिन्सिपल्स को भी यही समझाओ। बेहद की हिस्ट्री जाग्रॉफी तो सिखलाते नहीं हैं। सतयुग से त्रेता, द्वापर कलियुग कैसे होता है? यह है बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी, इनको जानने से तुम चक्रवर्ती बनेंगे। हम यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी समझाते हैं। सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। आओ तो हम तुमको परमपिता परमात्मा का परिचय देवें, जिसको निराकार कहते हैं, उनकी हम बायोग्राफी सुनायें। ब्रह्म योगी तो ब्रह्म का ही ज्ञान देते हैं। फिर कहेंगे कि ब्रह्म सर्वव्यापी है। परमात्मा तो नॉलेजफुल है। ज्ञान का सागर है। तत्व को ज्ञान का सागर थोड़ेही कहेंगे। बाप तो बच्चों को भी आप समान ज्ञान का सागर बनाते हैं। वह तत्व कैसे आप समान बनायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) चढ़ती कला का सबूत देना है। सबसे मोह निकाल सर्विस लायक बनना है। अपने आपको देखना है। दूसरे की निंदा करके एक दो की दिल खराब नहीं करनी है। कोई भी कुकर्म नहीं करना है।

2) बाप समान रहमदिल बनना है। कौड़ी से हीरे जैसा बनने का पुरुषार्थ करना है। लूनपानी अर्थात् खारे को मीठा बनाने की सेवा करनी है।

वरदान:- मास्टर दाता बन खुशियों का खजाना बांटने वाले सर्व की दुआओं के पात्र भव 
वर्तमान समय सभी को अविनाशी खुशी की आवश्यकता है, सब खुशी के भिखारी हैं, आप दाता के बच्चे हो। दाता के बच्चों का काम है देना। जो भी संबंध-सम्पर्क में आये उसे खुशी देते जाओ। कोई खाली न जाये, इतना भरपूर रहो। हर समय देखो कि मास्टर दाता बनकर कुछ दे रहा हूँ या सिर्फ अपने में ही खुश हूँ! जितना दूसरों को देंगे उतना सबकी दुआओं के पात्र बनेंगे और यह दुआयें सहज पुरूषार्थी बना देंगी।
स्लोगन:- संगम की प्राप्तियों को याद रखो तो दुख व परेशानी की बातें याद नहीं आयेंगी।

 

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 5 July 2017 :- Click Here

Font Resize