7 February ki murli

TODAY MURLI 7 FEBRUARY 2021 DAILY MURLI (English)

07/02/21
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
29/10/87

The powers of the body, mind, wealth and relationships.

Today, the Almighty Authority Father is looking at His powerful children. Every Brahmin soul has become powerful, but numberwise. All the powers are the inheritance from the Father and the blessing from the Bestower of Blessings. Through the double relationship of the Father and the Bestower of Blessings every child has this elevated attainment at birth. At birth, the Father gives you a right to all the powers, that is, He gives you your birthright. Along with that, as the Bestower of Blessings, He makes you a master almighty authority as soon as you take birth and gives you the blessing: “May you have all powers.” All the children receive this double right equally from the One, but your power to imbibe it makes you numberwise. The Father makes all the children constantly full of all powers, but children become powerful according to their capacity. Generally, whether in worldly life or in spiritual life, powers are the basis of success. The more powers you have, the more successful you are. The main powers are of the body, mind, wealth and relationships. All four are essential. If even one power out of these four is missing, there is not constant and total success in life. In spiritual life too, all four powers are essential.

In this spiritual life, the good health of both souls and matter is essential. When the soul is healthy, then, through your own stage the accounts of your body or illness of your body become like a thorn from a crucifix and you experience yourself to be healthy. There are then no signs of illness or suffering on your face. You don’t even speak about your illness and, instead of speaking about the suffering of karma, you speak of the stage of karma yoga, because speaking about the illness would cause the illness to increase. Such a soul will never experience the suffering of the illness, nor will he spread a wave of sorrow by speaking of his suffering. Instead, with the power of transformation, he will transform any suffering into contentment; he will remain content and bring about a wave of contentment in others. That is, he will become a master almighty authority and with the blessing of powers, use the power to tolerate or the power to accommodate, according to the time. When you use the blessing or the inheritance of powers that you receive from the Almighty Authority Father at a time of need, these blessings or good wishes work like medicine for you, because all these powers can co-operate with you in whatever form you need, according to the situation, the time and the way you want to use them. You can imbibe these powers or blessings from God in whatever way you want: one minute in the form of coolness, one minute in the form of burning. They can make you experience the coolness of water and also experience burning in a fire; they can work like medicine and also like nourishing food to make you powerful. Just become an authority to use these powers at the right time. All of these powers are servers of you master almighty authorities. Whenever you order any one of them, it will say, “Yes, my lord”, and co-operate with you. However, those who take service from them also have to be just as clever. So, you can constantly experience the power of the body on the basis of soul power, that is, you can experience being constantly healthy.

This alokik Brahmin life is a constantly healthy life. You have received the blessing of “May you be constantly healthy” from the Bestower of Blessings. BapDada sees that some children are not able to use or take benefit from the blessings they have received at the time of need. Or, it can be said that they are unable to take service from these powers, their servers, in an unlimited way and with an unlimited intellect. The stage of being a master almighty authority is not a small thing. It is an elevated stage and it is also a supreme title direct from the Supreme Soul. How much intoxication do you have of this title? The title makes so many tasks successful. So, this is a title from God; it is filled with so much happiness and power. If you remain seated on the seat of the stage of this title, you will experience all of these powers to be always ready to serve you. They will be awaiting your orders. So, use the blessing and the inheritance. If you don’t remain stable in the self-respect of a master almighty authority, then, instead of keeping your powers under your orders, you would constantly keep asking the Father to give you a particular power or to carry out a task for you, or for this to happen or that to happen. Therefore, those who make requests can never remain constantly happy. One thing will be accomplished and another will then begin. So, become a master, be yogyukt and take service wisely from your servers and you will automatically experience being constantly healthy. This is called the attainment of the power of the body.

In the same way, there is the power of the mind, that is, the power of elevated thought. Every thought of a master almighty authority has so much power that he can do whatever he wants, whenever he wants and also make it happen, because his thoughts are always pure, elevated and benevolent. So, where there are elevated thoughts of benevolence, they will definitely be successful and, because you are a master almighty authority, your mind can never deceive its master; it cannot make you experience sorrow. The mind remains concentrated, that is, it remains stable in one place; it does not wander. You are then able to stabilise your mind wherever you want, whenever you want. The mind can then never be unhappy, because it becomes your server, your servant. So, this is the power of the mind which you have attained in your alokik life as an inheritance and a blessing.

In the same way, the third is the power of wealth, that is, the power of the wealth of knowledge. The wealth of knowledge automatically enables you to attain physical wealth. Where there is the wealth of knowledge, nature automatically becomes a servant. Physical wealth is for physical facilities. With the wealth of knowledge, you automatically attain all physical facilities. This is why the wealth of knowledge is the king of all wealth. Where the king is, all the physical materials are automatically attained; you don’t need to make effort. If you have to make effort to attain any physical things, it means there is a lack of the wealth of knowledge. In fact, the wealth of knowledge makes you into a multimillionaire. Doing everything in God’s name automatically brings you success in everything you do. Those who have God’s wealth become those who do everything for God. They don’t even need to have a thought; all necessities automatically continue to be supplied. They have so much power of wealth that this wealth of knowledge makes them into the kings of kings for many births. So, you also easily attain the power of wealth.

In the same way, there is the power of relationships. There is the pure desire for the attainment of the power of relationships because, through relationships, there is the attainment of love and co-operation. In this alokik life, you attain the power of relationships in a double way. Do you know how you attain the power of relationships in a double way? One is to have all relationships with the Father and the second is the relationships with the divine family. So, it is a double relationship: with the Father and with one another. So, through relationships, you constantly continue to attain altruistic love, imperishable love and imperishable co-operation. So, you also have the power of relationships. In any case, why does a Father want children and why do children want a Father? For co-operation, so that you receive co-operation at a time of need. So, in this alokik life, you have the attainment of all four powers as a blessing and an inheritance. What would your stage be at every moment, when you have attained all four types of power? Always a master almighty authority. Do you always remain stable while seatedin this stage? It is this stage that, in other words, is referred to as being a king of the self, or a Raja Yogi. The treasure store of a king is constantly full. So, a Raja Yogi means one whose treasure store of all powers is constantly full. Do you understand? This is called the alokik life of an elevated Brahmin. So, always be a master and use all the powers. Instead of being “according to capacity”, be constantly powerful. Don’t be one of those who make requests, but one who remains constantly happy. Achcha.

Everyone is given the chance to come to Madhuban. Always keep this fortune that you have attained with you. To keep the Bestower of Fortune with you means to keep your fortune with you. People from three zones have come. The rivers from three different places have now come together. This is called the confluence of the Triveni. BapDada, as the Bestower of Blessings, gives blessings to you all. It is up to each of you to use these blessings. Achcha.

To the elevated souls everywhere who have a right to the full inheritance and blessings, to all the elevated master almighty authority souls, to all the contented souls who constantly spread waves of contentment, to the great souls who always attain success in all their interactions by acting in God’s name, BapDada’s love and remembrance filled with power, and namaste.

Avyakt BapDada’s inspirations for the programme of “Global Co-operation for a Better World”

This topic is such that everyone will come by themselves to offer their co-operation. Through their co-operation, they will also come into a relationship and this is why the offer will come by itself. Let it just be servers full of good wishes and pure feelings, who move forward in this service. It is just not possible that you do not receive any fruit of your good wishes. The land of good wishes and pure feelings of the servers will easily become instrumental in giving fruit. The fruit is ready, just the land has still to be prepared a little. The fruit will emerge quickly, but the land has to be fertile for that. That land is now being prepared.

In fact, everyone has to be served but, as yet, souls from the special wings have not come close. Although those from the field of politics or religion may have been served, there is a still a need for them to become co-operative and come to the front and co-operate at a time of need. For that, you need to shoot a powerful arrow. It has been seen that a powerful arrow is one that has good wishes of co-operation, good wishes of happiness and pure feelings for all souls. When you use this, every task will easily be successful. At present, you do all different types of service separately. However, in the early days, whenever someone set out to accomplish a task, he would seek blessings of the whole family. Those blessings would make everything easy. So, there has to be this addition when doing service. So, before you begin any task, take everyone’s good wishes and pure feelings and fill that task with the power of everyone’s contentment. Only then will powerful fruit emerge. Now, you don’t need to work so hard. Everyone has become empty. There is no need to work hard. They have become so empty that, if you were to blow on them, they would fly and come here. Nowadays, everyone thinks that some other power is needed that could control everything, whether it is government or religion. Internally, they are searching. There has to be a difference in the method of serving Brahmin souls and that will become the mantra. At present, you just use the mantra and you become successful. You have worked hard for 50 years and all of that had to happen and you became experienced. Now, keep the aim of using this topic in every task, “Success with everyone’s co-operation.” This is the topic for Brahmins. However, for people of the world, let it be the topic “Global Co-operation for a Better World.” Achcha.

Everyone’s practical form of success will now be visible. Any task that has gone wrong will easily be put right with your drishti and your co-operation. Then, because of this, they will call out with gratitude on the path of devotion. All of this success will come to you in a practical way. You will not say as a form of success, “Yes, this will happen for you”, but your directions will automatically enable them to have success. Only then will the subjects easily be created. They will emerge from everywhere and come to you. This part of success will now continue, but you first have to become so powerful that you do not accept that success; only then will revelation take place. Otherwise, if those who ensure success become trapped in that success themselves, what would happen? So, all of these things have to begin here. The Father’s praise is: “He is the Surgeon, He is the Engineer, He is the Lawyer, He is the Judge.” Everyone will experience this practically. Only then will everyone’s intellect be removed from everywhere else and come in this direction. Now, huge crowds are going to come to you. This is the scene that BapDada sees. Sometimes, He sees this present scene and there seems to be a big difference. Who are you? The Father knows that. There is going to be a very, very wonderful part, which you never even thought or dreamt of. It is just stuck a little at the moment, just as a curtain sometimes gets a little stuck. Even when you hoist a flag, it sometimes gets stuck. In the same way, everything at present is getting a little stuck. Whoever you are, however you are, you are very great. Only when your specialities are revealed will you become the especially beloved deities. Eventually, even the rosary of the deities is going to be revealed, but first, the little ‘thakurs’ (images of God) have to be decorated and prepared. Then, the devotees will come. Achcha.

Blessing: May you be constantly content and cheerful and do service even while renouncing your own rest.
A server renounces his own rest day and night and experiences rest in service. Those who come into contact with such souls, or who live with them, or have a relationship with them, experience closeness as though they are sitting under a spring of coolness, power and peace. They become servers with elevated characters, Kam Dhenu, who fulfil everyone’s desires for all time. Such servers automatically receive the blessing of remaining cheerful and content.
Slogan: In order to become an embodiment of knowledge, pay attention to the study at every moment. Let there be equal love for the Father and the study.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 FEBRUARY 2021 : AAJ KI MURLI

07-02-21
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 29-10-87 मधुबन

तन, मन, धन और सम्बन्ध की शक्ति

आज सर्वशक्तिवान बाप अपने शक्तिशाली बच्चों को देख रहे हैं। हर एक ब्राह्मण आत्मा शक्तिशाली बनी है लेकिन नम्बरवार है। सर्व शक्तियां बाप का वर्सा और वरदाता का वरदान हैं। बाप और वरदाता – इन डबल सम्बन्ध से हरेक बच्चे को यह श्रेष्ठ प्राप्ति जन्म से ही होती है। जन्म से ही बाप सर्व शक्तियों का अर्थात् जन्म-सिद्ध अधिकार का अधिकारी बना देता है, साथ-साथ वरदाता के नाते से जन्म होते ही मास्टर सर्वशक्तिवान बनाए ‘सर्व शक्ति भव’ का वरदान दे देते हैं। सभी बच्चों को एक द्वारा एक जैसा ही डबल अधिकार मिलता है लेकिन धारण करने की शक्ति नम्बरवार बना देती है। बाप सभी को सदा और सर्व शक्तिशाली बनाते हैं लेकिन बच्चे यथा-शक्ति बन जाते हैं। वैसे लौकिक जीवन में वा अलौकिक जीवन में सफलता का आधार शक्तियां ही हैं। जितनी शक्तियां, उतनी सफलता। मुख्य शक्तियां हैं – तन की, मन की, धन की और सम्बन्ध की। चारों ही आवश्यक हैं। अगर चार में से एक भी शक्ति कम है तो जीवन में सदा व सर्व सफलता नहीं होती। अलौकिक जीवन में भी चारों ही शक्तियां आवश्यक है।

इस अलौकिक जीवन में आत्मा और प्रकृति दोनों की तन्दरूस्ती आवश्यक है। जब आत्मा स्वस्थ है तो तन का हिसाब-किताब वा तन का रोग सूली से कांटा बनने के कारण, स्व-स्थिति के कारण स्वस्थ अनुभव करता है। उनके मुख पर, चेहरे पर बीमारी के कष्ट के चिन्ह नहीं रहते। मुख पर कभी बीमारी का वर्णन नही होता, कर्मभोग के वर्णन के बदले कर्मयोग की स्थिति का वर्णन करते हैं क्योंकि बीमारी का वर्णन भी बीमारी की वृद्धि करने का कारण बन जाता है। वह कभी भी बीमारी के कष्ट का अनुभव नहीं करेगा, न दूसरे को कष्ट सुनाकर कष्ट की लहर फैलायेगा। और ही परिवर्तन की शक्ति से कष्ट को सन्तुष्टता में परिवर्तन कर सन्तुष्ट रह औरों में भी सन्तुष्टता की लहर फैलायेगा अर्थात् मास्टर सर्वशक्तिवान बन शक्तियों के वरदान में से समय प्रमाण सहन शक्ति, समाने की शक्ति प्रयोग करेगा और समय पर शक्तियों का वरदान वा वर्सा कार्य में लाना – यही उसके लिए वरदान अर्थात् दुआ दवाई का काम कर देती है क्योंकि सर्वशक्तिवान बाप द्वारा जो सर्वशक्तियां प्राप्त हैं वह जैसी परिस्थिति, जैसा समय और जिस विधि से आप कार्य में लगाने चाहो, वैसे ही रूप से यह शक्तियां आपकी सहयोगी बन सकती हैं। इन शक्तियों को वा प्रभु-वरदान को जिस रूप में चाहे वह रूप धारण कर सकती है। अभी-अभी शीतलता के रूप में, अभी-अभी जलाने के रूप में। पानी की शीतलता का भी अनुभव करा सकते तो आग के जलाने का भी अनुभव करा सकते; दवाई का भी काम कर सकता और शक्तिशाली बनाने का माजून का भी काम कर सकता। सिर्फ समय पर कार्य में लगाने की अथॉरिटी बनो। यह सर्वशक्तियां आप मास्टर सर्वशक्तिवान की सेवाधारी हैं। जब जिसको आर्डर करो, वह ‘हाज़िर हज़ूर’ कह सहयोगी बनेगी लेकिन सेवा लेने वाले भी इतने चतुर-सुजान चाहिए। तो तन की शक्ति आत्मिक शक्ति के आधार पर सदा अनुभव कर सकते हो अर्थात् सदा स्वस्थ रहने का अनुभव कर सकते हो।

यह अलौकिक ब्राह्मण जीवन है ही सदा स्वस्थ जीवन। वरदाता से ‘सदा स्वस्थ भव’ का वरदान मिला हुआ है। बापदादा देखते हैं कि प्राप्त हुए वरदानों को कई बच्चे समय पर कार्य में लगाकर लाभ नहीं ले सकते हैं वा यह कहें कि शक्तियों अर्थात् सेवाधारियों से अपनी विशालता और विशाल बुद्धि द्वारा सेवा नहीं ले पाते हैं। ‘मास्टर सर्वशक्तिवान’ – यह स्थिति कोई कम नहीं है! यह श्रेष्ठ स्थिति भी है, साथ-साथ डायरेक्ट परमात्मा द्वारा ‘परम टाइटल’ भी है। टाइटल का नशा कितना रखते हैं! टाइटल कितने कार्य सफल कर देता है! तो यह परमात्म-टाइटल है, इसमें कितनी खुशी और शक्ति भरी हुई है! अगर इसी एक टाइटल की स्थिति रूपी सीट पर सेट रहो तो यह सर्वशक्तियाँ सेवा के लिए सदा हाज़िर अनुभव होंगी, आपके आर्डर की इन्तजार में होगी। तो वरदान को वा वर्से को कार्य में लगाओ। अगर मास्टर सर्वशक्तिवान के स्वमान में स्थित नहीं होते तो शक्तियों को आर्डर में चलाने के बजाए बार-बार बाप को अर्जी डालते रहते कि यह शक्ति दे दो, यह हमारा कार्य करा दो, यह हो जाए, ऐसा हो जाए। तो अर्जी डालने वाले कभी भी सदा राज़ी नहीं रह सकते हैं। एक बात पूरी होगी, दूसरी शुरू हो जायेगी। इसलिए मालिक बन, योगयुक्त बन युक्तियुक्त सेवा सेवाधारियों से लो तो सदा स्वस्थ का स्वत: ही अनुभव करेंगे। इसको कहते हैं तन के शक्ति की प्राप्ति।

ऐसे ही मन की शक्ति अर्थात् श्रेष्ठ संकल्प शक्ति। मास्टर सर्वशक्तिवान के हर संकल्प में इतनी शक्ति है जो जिस समय जो चाहे वह कर सकता है और करा भी सकता है क्योंकि उनके संकल्प सदा शुभ, श्रेष्ठ और कल्याणकारी होंगे। तो जहाँ श्रेष्ठ कल्याण का संकल्प है, वह सिद्ध जरूर होता है और मास्टर सर्वशक्तिवान होने के कारण मन कभी मालिक को धोखा नहीं दे सकता है, दु:ख नहीं अनुभव करा सकता है। मन एकाग्र अर्थात् एक ठिकाने पर स्थित रहता है, भटकता नहीं है। जहाँ चाहो, जब चाहो मन को वहाँ स्थित कर सकते हो। कभी मन उदास नहीं हो सकता है, क्योंकि वह सेवाधारी दास बन जाता है। यह है मन की शक्ति जो अलौकिक जीवन में वर्से वा वरदान में प्राप्त है।

इसी प्रकार तीसरी है धन की शक्ति अर्थात् ज्ञान-धन की शक्ति। ज्ञान-धन स्थूल धन की प्राप्ति स्वत: ही कराता है। जहाँ ज्ञान धन है, वहाँ प्रकृति स्वत: ही दासी बन जाती है। यह स्थूल धन प्रकृति के साधन के लिए है। ज्ञान-धन से प्रकृति के सर्व साधन स्वत: प्राप्त होते हैं इसलिए ज्ञान-धन सब धन का राजा है। जहाँ राजा है, वहाँ सर्व पदार्थ स्वत: ही प्राप्त होते हैं, मेहनत नहीं करनी पड़ती। अगर कोई भी लौकिक पदार्थ प्राप्त करने में मेहनत करनी पड़ती है तो इसका कारण ज्ञान-धन की कमी है। वास्तव में, ज्ञान-धन पद्मापद्मपति बनाने वाला है। परमार्थ व्यवहार को स्वत: ही सिद्ध करता है। तो परमात्म-धन वाले परमार्थी बन जाते हैं। संकल्प करने की भी आवश्यकता नहीं, स्वत: ही सर्व आवश्यकतायें पूर्ण होती रहती। धन की इतनी शक्ति है जो अनेक जन्म यह ज्ञान-धन राजाओं का भी राजा बना देता है। तो धन की भी शक्ति सहज प्राप्त हो जाती है।

इसी प्रकार – सम्बन्ध की शक्ति। सम्बन्ध की शक्ति के प्राप्ति की शुभ इच्छा इसलिए होती है क्योंकि सम्बन्ध में स्नेह और सहयोग की प्राप्ति होती है। इस अलौकिक जीवन में सम्बन्ध की शक्ति डबल रूप में प्राप्त होती है। जानते हो, डबल सम्बन्ध की शक्ति कैसे प्राप्त होती है? एक – बाप द्वारा सर्व सम्बन्ध, दूसरा – दैवी परिवार द्वारा सम्बन्ध। तो डबल सम्बन्ध हो गया ना – बाप से भी और आपस में भी। तो सम्बन्ध द्वारा सदा नि:स्वार्थ स्नेह, अविनाशी स्नेह और अविनाशी सहयोग सदा ही प्राप्त होता रहता है। तो सम्बन्ध की भी शक्ति है ना। वैसे भी बाप, बच्चे को क्यों चाहता है अथवा बच्चा, बाप को क्यों चाहता है? सहयोग के लिए, समय पर सहयोग मिले। तो इस अलौकिक जीवन में चारों शक्तियों की प्राप्ति वरदान रूप में, वर्से के रूप में है। जहाँ चारों प्रकार की शक्तियां प्राप्त हैं, उसकी हर समय की स्थिति कैसी होगी? सदा मास्टर सर्वशक्तिवान। इसी स्थिति की सीट पर सदा स्थित हो? इसी को ही दूसरे शब्दों में स्व के राजे वा राजयोगी कहा जाता है। राजाओं के भण्डार सदा भरपूर रहते हैं। तो राजयोगी अर्थात् सदा शक्तियों के भण्डार भरपूर रहते, समझा? इसको कहा जाता है श्रेष्ठ ब्राह्मण अलौकिक जीवन। सदा मालिक बन सर्व शक्तियों को कार्य में लगाओ। यथाशक्ति के बजाए सदा शक्तिशाली बनो। अर्जी करने वाले नहीं, सदा राज़ी रहने वाले बनो। अच्छा।

मधुबन आने का चांस तो सभी को मिल रहा है ना। इस प्राप्त हुए भाग्य को सदा साथ रखो। भाग्यविधाता को साथ रखना अर्थात् भाग्य को साथ रखना है। तीन ज़ोन के आये हैं। अलग-अलग स्थान की 3 नदियां आकर इकट्ठी हुई – इसको त्रिवेणी का संगम कहते हैं। बापदादा तो वरदाता बन सबको वरदान देते हैं। वरदानों को कार्य में लगाना, वह हर एक के ऊपर है। अच्छा।

चारों ओर के सर्व वर्से और वरदानों के अधिकारी श्रेष्ठ आत्माओं को, सर्व मास्टर सर्वशक्तिवान श्रेष्ठ आत्माओं को, सदा सन्तुष्टता की लहर फैलाने वाले सन्तुष्ट आत्माओं को, सदा परमार्थ द्वारा व्यवहार में सिद्धि प्राप्त करने वाली महान् आत्माओं को बापदादा का स्नेह और शक्ति सम्पन्न यादप्यार और नमस्ते।

“सर्व के सहयोग से सुखमय संसार” कार्यक्रम के बारे में – अव्यक्त बापदादा की प्रेरणायें

यह विषय ऐसी है जो स्वयं सभी सहयोग देने की आफर करेंगे। सहयोग से फिर सम्बन्ध में भी आयेंगे इसलिए आपेही आफर होगी। सिर्फ शुभभावना, शुभकामना सम्पन्न सेवा में सेवाधारी आगे बढ़ें। शुभभावना का फल प्राप्त नहीं हो – यह हो ही नहीं सकता। सेवाधारियों के शुभभावना, शुभकामना की धरनी सहज फल देने के निमित्त बनेगी। फल तैयार है, सिर्फ धरनी तैयार होने की थोड़ी-सी देरी है। फल तो फटाफट निकलेंगे लेकिन उसके लिए योग्य धरनी चाहिए। अभी वह धरनी तैयार हो रही है।

वैसे सेवा तो सभी की करनी आवश्यक है लेकिन फिर भी जो विशेष सत्तायें हैं, उनमें से समीप नहीं आये हैं। चाहे राज्य सत्ता वालों की सेवा हुई है या धर्म सत्ता वालों की हुई है, लेकिन सहयोगी बनकर के सामने आयें, समय पर सहयोगी बनें – उसकी आवश्यकता है। उसके लिए तो शक्तिशाली बाण लगाना पड़ेगा। देखा जाता है कि शक्तिशाली बाण वही होता है जिसमें सर्व आत्माओं के सहयोग की भावना हो, खुशी की भावना हो, सद्भावना हो। इससे हर कार्य सहज सफल होता है। अभी जो सेवा करते हो वह अलग-अलग करते हो। लेकिन जैसे पहले जमाने में कोई कार्य करने के लिए जाते थे तो सारे परिवार की आशीर्वाद लेकर के जाते थे। वह आशीर्वाद ही सहज बना देती है। तो वर्तमान सेवा में यह एडीशन (अभीवृद्धि) चाहिए। तो कोई भी कार्य शुरू करने के पहले सभी शुभभावनायें, शुभकामनायें लो, सर्व के सन्तुष्टता का बल भरो, तब शक्तिशाली फल निकलेगा। अभी इतनी मेहनत करने की आवश्यकता नहीं है। सब खोखले हुए पड़े हैं। मेहनत करने की जरूरत नहीं। फूंक दो और उड़कर यहाँ आ जायें – ऐसे खोखले हैं। और आजकल तो सब समझ रहे हैं कि और कोई पावर चाहिए जो कन्ट्रोल कर सके – चाहे राज्य को, चाहे धर्म को। अन्दर से ढूंढ रहे हैं। सिर्फ ब्राह्मण आत्माओं की सेवा की विधि में अन्तर चाहिए, वही मंत्र बन जायेगा। अभी तो मंत्र चलाओ और सिद्धि हो। 50 वर्ष मेहनत की। यह सब भी होना ही था, अनुभवी बन गये। अभी हर कार्य में यही लक्ष्य रखो कि ‘सर्व के सहयोग से सफलता’ – ब्राह्मणों के लिए यह टॉपिक है। बाकी दुनिया वालों के लिए टॉपिक है – ‘सर्व के सहयोग से सुखमय संसार’।

अच्छा। अब तो आप सबके सिद्धि का प्रत्यक्ष रूप दिखाई देगा। कोई बिगड़ा हुआ कार्य भी आपकी दृष्टि से, आपके सहयोग से सहज हल होगा जिसके कारण भक्ति में धन्य-धन्य करके पुकारोंगे। यह सब सिद्धियां भी आपके सामने प्रत्यक्ष रूप में आयेंगी। कोई सिद्धि के रीति से आप लोग नहीं कहेंगे कि हाँ यह हो जायेगा, लेकिन आपका डायरेक्शन स्वत: सिद्धि प्राप्त कराता रहेगा। तब तो प्रजा जल्दी-जल्दी बनेगी, सब तरफ से निकल कर आपकी तरफ आयेंगे। यह सिद्धि का पार्ट अभी चलेगा। लेकिन पहले इतने शक्तिशाली बनो जो सिद्धि को स्वीकार न करो, तब यह प्रत्यक्षता होगी। नहीं तो, सिद्धि देने वाले ही सिद्धि में फंस जायें तो फिर क्या करेंगे? तो यह सब बातें यहाँ से ही शुरु होनी हैं। बाप का जो गायन है कि वह सर्जन भी है, इंजीनियर भी है, वकील भी है, जज भी है, इसका प्रैक्टिकल सब अनुभव करेंगे, तब सब तरफ से बुद्धि हटकर एक तरफ जायेगी। अभी तो आपके पीछे भीड़ लगने वाली है। बापदादा तो यह दृश्य देखते हैं और कभी-कभी अब के दृश्य देखते हैं – बहुत फर्क लगता है। आप हो कौन, वह बाप जानता है! बहुत-बहुत वण्डरफुल पार्ट होने हैं, जो ख्याल-ख्वाब में भी नहीं है। सिर्फ थोड़ा रुका हुआ है बस। जैसे पर्दा कभी-कभी थोड़ा अटक जाता है ना। झण्डा भी लहराते हो तो कभी अटक जाता है। ऐसे अभी थोड़ा-थोड़ा अटक रहा है। आप जो हैं, जैसे हो – बहुत महान हो। जब आपकी विशेषता प्रत्यक्ष होगी तब तो इष्ट बनेंगे। आखिर तो भक्त माला भी प्रत्यक्ष होगी ना, लेकिन पहले ठाकुर सजकर तैयार हों तब तो भक्त आयें ना। अच्छा।

वरदान:- स्वयं के आराम का भी त्याग कर सेवा करने वाले सदा सन्तुष्ट, सदा हर्षित भव
सेवाधारी स्वयं के रात-दिन के आराम को भी त्यागकर सेवा में ही आराम महसूस करते हैं, उनके सम्पर्क में रहने वाले वा सम्बन्ध में आने वाले समीपता का ऐसे अनुभव करते हैं जैसे शीतलता वा शक्ति, शान्ति के झरने के नीचे बैठे हैं। श्रेष्ठ चरित्रवान सेवाधारी कामधेनु बन सदाकाल के लिए सर्व की मनोकामनायें पूर्ण कर देते हैं। ऐसे सेवाधारी को सदा हर्षित और सदा सन्तुष्ट रहने का वरदान स्वत: प्राप्त हो जाता है।
स्लोगन:- ज्ञान स्वरूप बनना है तो हर समय स्टडी पर अटेन्शन रखो, बाप और पढ़ाई से समान प्यार हो।

TODAY MURLI 7 FEBRUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 7 February 2020

07/02/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only listen to the things that the Father tells you. Speak no evil! See no evil! Hear no evil!
Question: What faith does the Father inspire you children to have?
Answer: The Father inspires you to have the faith that He is your Father, your Teacher and your Satguru. You have to make effort to maintain this awareness. However, Maya makes you forget. On the path of ignorance, there is no question of Maya.
Question: When you check your chart, in which aspect do you need an unlimited, broad intellect?
Answer: When you check for how long you considered yourself to be a soul and remembered the Father. When you check this aspect of your chart, you need an unlimited broad, intellect. Only when you become soul conscious and remember the Father will your sins be absolved.

Om shanti. You students understand that the Teacher has come. You children know that He is the Father, the Teacher and the Supreme Satguru. This is in the awareness of you children, but it is numberwise, according to the efforts you make. The law is that, once you know that that One is the Father, the Teacher and the Satguru, you should not forget it, but here, Maya does make you forget. Maya does not make you forget on the path of ignorance. Children can never forget who their father is or what his occupation is. They have the happiness of being the masters of their father’s wealth. Although they themselves study, they would also receive their father’s property. You children study here and you also receive the Father’s property. You are studying Raj Yoga. You have received from the Father the faith that you belong to the Father and that only the Father shows the path to salvation. Therefore, He is the Satguru. These things should not be forgotten. You must only listen to things that the Father tells you. There is the image of the monkeys with the slogan: Hear no evil! See no evil Speak no evil! This applies to human beings. The Father says: Do not listen to, speak of or look at devilish things. They make the slogan “Hear no evil, etc.” with the example of monkeys, whereas now, they have made it with the example of human beings. You have the picture of Nalini demonstrating this. You mustn’t listen to anything that defames the Father. The Father says: They defame Me so much! You know that when incense sticks are burning in front of Krishna’s devotees, Rama’s devotees hold their nose. They don’t even like the fragrance of one another’s incense sticks! It is as though they become enemies. You now belong to Rama’s, or God’s, family, whereas the rest of the world belong to Ravan’s family. Here, there is no question of incense sticks. You know what state you have reached by calling the Father omnipresent. By saying that He is present in the pebbles and stones, your intellects have turned to stone. There is so much defamation of the unlimited Father who gives you your inheritance. None of them has knowledge. The things they say are not jewels of knowledge, but stones. You now have to remember the Father. The Father says: No one knows Me accurately as I am or what I am. It is also numberwise for you children. You have to remember the Father accurately. He too is a tiny point. An entire part is within Him. As well as considering yourselves to be souls you also have to know the Father accurately and remember Him. Although we are His children, it isn’t that the Father is a large soul and that we are small; no. Although the Father is full of knowledge, that soul isn’t any larger than us. There is knowledge in you souls too, but it is numberwise. Pupils in a school pass, numberwise. They may claim few marks, but no one has zero marks. The Father says: The knowledge that I give you now will disappear, and the images and the scriptures will be created again. The Father says to you souls: Hear no evil etc. What is there to see at in this devilish world? You must keep your eyes closed to this dirty world. You souls have now become aware that this world is old. So, why should you want to have any connection with it? You souls are now aware that, whilst seeing this world, you mustn’t see it. You should remember your lands of peace and happiness. You souls have received third eyes of knowledge and so you have to remember these things. Those on the path of devotion also wake up early in the morning and turn the beads of a rosary. They consider the auspicious time of the morning to be the best. There is also the auspicious time of you Brahmins. There is praise of Brahma bhojan too. It is not brahm bhojan but Brahma bhojan. Instead of Brahma Kumaris, those people call you brahm kumaris. They understand nothing. The children of Brahma would be Brahma Kumars and Kumaris. Brahm is the element of light. It is the place where souls reside. What praise would it have? The Father complains to you children: On the one hand, you children worshipped Me and, on the other hand, you defamed Me. It was by defaming Me that you became totally tamopradhan. You had to become tamopradhan; the cycle has to repeat. When an important person comes, you must definitely explain the cycle to him. The cycle is only 5000 years. You have to pay plenty of attention to this. Day surely follows night. It’s impossible for there not to be the day after the night. The golden age will definitely come after the iron age. The history and geography of this world repeat. The Father says to you children: Sweetest children, each of you must consider yourself to be a soul. It is souls that do everything as they perform their parts. No one knows that they are actors and that they should also know the beginning, the middle and the end of the play. The history and geography of the world repeat. Therefore, this is a dramaSecond by second, whatever happened in the past continues to repeat. No one else can understand these things. Those who are not very clever always fail. So, what could their teacher do about that? Would you ask your teacher to have mercy for you or to give you blessings? This too is a study. God Himself teaches Raj Yoga at this Gita Pathshala. The iron age definitely has to be transformed and made into the golden age. The Father has to come according to the drama. The Father says: I come at the confluence of every cycle. No one else would say: “I give you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world”. They say of themselves “Shivohum” (I am Shiva). What will happen through that? Shiv Baba comes to teach you. He comes to teach you easy Raj Yoga. None of the sages or holy men would be called God Shiva. There are many who call themselves Krishna or Lakshmi or Narayan. There is so much difference between Shri Krishna, the prince of the golden age, and those iron-aged, impure people. You would not say that God is in them. You can go to the temples and ask the devotees: Where are the deities who used to rule in the golden age? After the golden age, there definitely have to be the silver, copper and iron ages. The sun-dynasty kingdom was in the golden age and moon dynasty in the silver age. All of this knowledge is in the intellects of you children. You are Brahma Kumars and Kumaris, and so there must surely also be Prajapita Brahma. The human world is created through Brahma. Brahma isn’t called the Creator. That is the One who is God, the Father. How does He create? It is only when the Father comes personally in front of you that He can explain this. Those scriptures were created later, just as it was only after Christ explained all of those things that the Bible was created. His praise is sung later. Only the Father is praised as the Purifier, the Bestower of Salvation for All, the Liberator of All. People remember Him and say to Him: O God, the Father, have mercy! There is only one who is the Father. He is the Father of everyone in the whole world. People do not know who liberates them from all their sorrow. This world is now old and human beings too are old and tamopradhan. This is the iron-aged world. The golden age did exist. Therefore, it will definitely come again. Destruction will take place. This will happen through world war and also through many natural calamities. It is now that same period of time. The human world population has expanded so much. You say that God has come. You children challenge everyone and say that the original eternal deity religion is now being established through Brahma. They will listen to you according to the drama. You also have to imbibe divine virtues. You know that you didn’t have any virtues at all. The first defect is the vice of lust. It harasses you so much. There is the boxing with Maya. The storms of Maya make you fall against your wish. This is the iron age. They all dirty their faces. You cannot call that dark blue. Krishna is portrayed as dark blue to represent the poisonous bite of a snake. In order to maintain his honour, they have shown his face dark blue. If they were to show his face dirty, it would be as though his honour was lost. The Traveller comes here from the faraway land, the incorporeal land. He comes into the iron-aged world and enters an impure body and makes it beautiful. The Father says: You now have to become satopradhan. By remembering Me, your sins will be absolved and you will become the masters of the land of Vishnu. These things of knowledge have to be understood. Baba is Rup and Basant. He has the form of a very bright dot. He also has knowledge. He is not beyond name and form. No one in the world knows what His form is. The Father explains to you: I too am called a soul, but it’s just that I am the Supreme Soul. The Supreme Soul is God. He is the Father and the Teacher. He is called the knowledge-full One. People believe that He is knowledge-full, that He knows what is going on in each one’s heart. If God were omnipresent, everyone else would also be knowledge-full. So, then, why do they only call that one the knowledge-full One? People’s intellects have become so degraded! They do not understand any aspects of knowledge at all. The Father sits here and tells you the contrast between devotion and knowledge. First of all, there is knowledge, the day; that consists of the golden and silver ages. Then, there is the night of the copper and iron ages. It is through knowledge that there is salvation. Hatha yogis cannot explain the knowledge of Raj Yogis. Even householders cannot explain it because they are impure. So then, who can teach Raj Yoga? The One who says: Constantly remember Me alone so that your sins can be absolved. The religion of the path of isolation is totally separate from the religion of those on the family path. Therefore, how could they relate the knowledge of the family path? Here, everyone says: God, the Father, is the Truth. Only the Father tells the truth. Souls are now aware of Baba and this is why we remember the Father and ask Him to come and tell the true story of how to become true Narayan from an ordinary human. I am now telling you the story of true Narayan. Previously, you used to listen to false stories. Now you listen to the true story. No one has been able to become Narayan by listening to that false story. How could that be the story of the true Narayan? Human beings cannot make an ordinary human into Narayan. Only the Father can come and make you into the masters of heaven. The Father comes into Bharat but no one understands when He comes. They have mixed up Shiva with Shankar and made stories. There is also the Shiv Purana (scripture). They say that the Gita is sung by Krishna. Therefore, the Shiv Purana should be greater. In fact, the knowledge is in the Gita. God says: Manmanabhav! This term cannot be in any scripture other than the Gita. It is said that the Shrimad Bhagawad Gita is the jewel of all scriptures. Elevated directions come from God. First of all, tell them: We say that in a few years, the new elevated world will be established. This world is now corrupt. There will be very few people in the elevated world. At present, there are so many people. Destruction is standing in front of you. The Father is teaching Raj Yoga. You receive the inheritance from the Father. People ask the Father for that. When someone has a lot of wealth and children, he says that God gave him all of that. Therefore, God is only One. So, how could God possibly be in everyone? The Father now says to souls: Remember Me! You souls say: God gave us this knowledge which we give to our brothers. For how long each day do you consider yourself to be a soul and remember the Father? You need an unlimited broad, intellect to maintain this aspect of the chart. You must become soul conscious and remember the Father; only then will your sins be absolved. Knowledge is very easy, but you make progress by considering yourself to be a soul and by remembering the Father. Very few of you are able to keep this chart. By becoming soul conscious and remembering the Father, you will never cause sorrow for anyone. The Father comes in order to give happiness. Therefore, you children too should give happiness to everyone. Never cause sorrow for anyone. When you have remembrance of the Father all the evil spirits run away. This effort is very incognito. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Close your eyes to this dirty, devilish world. This world is old. Therefore, have no further connection with it. Even whilst seeing it, do not see it.
  2. We are actors in this unlimited drama. Whatever happened in the past will repeat, second by second. Maintain this awareness and pass in every subject. You must have an unlimited, broad intellect.
Blessing: May you transform the attitudes of others with your elevated attitude and become an embodiment of constantly success.
In order to become an embodiment of success, perform the task of transforming attitudes with your own attitude and thoughts with your thoughts. Do research on this. When you become busy in this service, this subtle service will then automatically take you beyond many weaknesses. Now, make a plan for this and the number of students will increase, the income will increase a lot more, you will be given buildings; total success will be easily achieved. This method will make you an embodiment of success.
Slogan: Continue to use your time in a worthwhile way and you will be saved from being deceived by the time.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 FEBRUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 February 2020

07-02-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें जो बाप सुनाते हैं वही सुनो, आसुरी बातें मत सुनो, मत बोलो, हियर नो इविल, सी नो इविल….”
प्रश्नः- तुम बच्चों को कौन-सा निश्चय बाप द्वारा ही हुआ है?
उत्तर:- बाप तुम्हें निश्चय कराते कि मैं तुम्हारा बाप भी हूँ, टीचर भी हूँ, सतगुरू भी हूँ, तुम पुरूषार्थ करो इस स्मृति में रहने का। परन्तु माया तुम्हें यही भुलाती है। अज्ञान काल में तो माया की बात नहीं।
प्रश्नः- कौन-सा चार्ट रखने में विशाल बुद्धि चाहिए?
उत्तर:- अपने को आत्मा समझकर बाप को कितना समय याद किया-इस चार्ट रखने में बड़ी विशाल बुद्धि चाहिए। देही-अभिमानी हो बाप को याद करो तब विकर्म विनाश हों।

ओम् शान्ति। स्टूडेन्ट ने यह समझा कि टीचर आये हुए हैं। यह तो बच्चे जानते हैं वह बाप भी है, शिक्षक भी है और सुप्रीम सतगुरू भी है। बच्चों को स्मृति में है परन्तु नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। कायदा कहता है-जब एक बार जान गये कि टीचर है अथवा यह बाप है, गुरू है तो फिर भूल नहीं सकते। परन्तु यहाँ माया भुला देती है। अज्ञान काल में माया कभी भुलाती नहीं। बच्चा कभी भूल नहीं सकता कि यह हमारा बाप है, उनका यह आक्यूपेशन है। बच्चे को खुशी रहती है, हम बाप के धन का मालिक हूँ। भल खुद भी पढ़ते हैं परन्तु बाप की प्रापर्टी तो मिलती है ना। यहाँ तुम बच्चे भी पढ़ते हो और बाप की तुम्हें प्रापर्टी भी मिलती है। तुम राजयोग सीख रहे हो। बाप द्वारा निश्चय हो जाता है-हम बाप का हूँ, बाप ही सद्गति का रास्ता बता रहे हैं इसलिए वह सतगुरू भी है। यह बातें भूलनी नहीं चाहिए। जो बाप सुनाते हैं वही सुनना है। यह जो बन्दरों का खिलौना दिखाते हैं-हियर नो ईविल, सी नो ईविल……. यह है मनुष्य की बात। बाप कहते हैं आसुरी बातें मत बोलो, मत सुनो, मत देखो। हियर नो ईविल……. यह पहले बन्दरों का बनाते थे। अभी तो मनुष्य का बनाते हैं। तुम्हारे पास नलिनी का बनाया हुआ है। तो तुम बाप के ग्लानि की बातें मत सुनो। बाप कहते हैं मेरी कितनी ग्लानि करते हैं। तुमको मालूम है-कृष्ण के भक्त के आगे धूप जगाते हैं तो राम के भक्त नाक बंद कर लेते हैं। एक-दो की खुशबू भी अच्छी नहीं लगती। आपस में जैसे दुश्मन हो जाते हैं। अब तुम हो राम वंशी। दुनिया है सारी रावण-वंशी। यहाँ धूप की तो बात नहीं है। तुम जानते हो बाप को सर्वव्यापी कहने से क्या गति हुई है! ठिक्कर भित्तर में कहने से ठिक्कर बुद्धि हो गई है। तो बेहद का बाप जो तुमको वर्सा देते हैं, उनकी कितनी ग्लानि करते हैं। ज्ञान तो कोई में है नहीं। वह ज्ञान रत्न नहीं, परन्तु पत्थर हैं। अभी तुम्हें बाप को याद करना पड़े। बाप कहते हैं मैं जो हूँ, जैसा हूँ, यथार्थ रीति मुझे कोई नहीं जानते। बच्चों में भी नम्बरवार हैं। बाप को यथार्थ रीति याद करना है। वह भी इतनी छोटी बिन्दी है, उनमें यह सारा पार्ट भरा हुआ है। बाप को यथार्थ रीति जानकर याद करना है, अपने को आत्मा समझना है। भल हम बच्चे हैं परन्तु ऐसे नहीं कि बाप की आत्मा बड़ी, हमारी छोटी है। नहीं, भल बाप नॉलेजफुल है परन्तु आत्मा कोई बड़ी नहीं हो सकती। तुम्हारी आत्मा में भी नॉलेज रहती है परन्तु नम्बरवार। स्कूल में भी नम्बरवार पास होते हैं ना। जीरो मार्क कोई की नहीं होती। कुछ न कुछ मार्क्स ले लेते हैं। बाप कहते हैं मैं जो तुमको यह ज्ञान सुनाता हूँ, यह प्राय: लोप हो जाता है। फिर भी चित्र हैं, शास्त्र भी बनाये हुए हैं। बाप तुम आत्माओं को कहते हैं हियर नो ईविल……. इस आसुरी दुनिया को क्या देखना है। इस छी-छी दुनिया से आंखें बन्द कर लेनी हैं। अब आत्मा को स्मृति आई है, यह है पुरानी दुनिया। इनसे क्या कनेक्शन रखना है। आत्मा को स्मृति आई है कि इस दुनिया को देखते भी नहीं देखना है। अपने शान्तिधाम और सुखधाम को याद करना है। आत्मा को ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है तो यह सिमरण करना है। भक्ति मार्ग में भी सवेरे उठकर माला फेरते हैं। सवेरे का मुहूर्त अच्छा समझते हैं। ब्राह्मणों का मुहूर्त है। ब्रह्मा भोजन की भी महिमा है। ब्रह्म भोजन नहीं, ब्रह्मा भोजन। तुमको भी ब्रह्माकुमारी के बदले ब्रह्मकुमारी कह देते हैं, समझते नहीं हैं। ब्रह्मा के बच्चे तो ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ होंगे ना। ब्रह्म तो तत्व है, रहने का ठिकाना है, उनकी क्या महिमा होगी। बाप बच्चों को उल्हना देते हैं-बच्चे, तुम एक तरफ तो पूजा करते हो, दूसरी तरफ फिर सबकी ग्लानि करते हो। ग्लानि करते-करते तमोप्रधान बन पड़े हो। तमोप्रधान भी बनना ही है, चक्र रिपीट होगा। जब कोई बड़े आदमी आते हैं तो उनको चक्र पर जरूर समझाना है। यह चक्र 5 हज़ार वर्ष का ही है, इनके ऊपर बहुत अटेन्शन देना है। रात के बाद दिन जरूर होना ही है। यह हो नहीं सकता कि रात के बाद दिन न हो। कलियुग के बाद सतयुग जरूर आना है। यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती है।

तो बाप समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, अपने को आत्मा समझो, आत्मा ही सब कुछ करती है, पार्ट बजाती है। यह किसको भी पता नहीं है कि अगर हम पार्टधारी हैं तो नाटक के आदि-मध्य-अन्त को जरूर जानना चाहिए। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती है तो ड्रामा ही ठहरा ना। सेकण्ड बाई सेकण्ड वही रिपीट होगा जो पास्ट हो गया है। यह बातें और कोई समझ न सके। कम बुद्धि वाले हमेशा नापास ही होते हैं फिर टीचर भी क्या कर सकते! टीचर को क्या कहेंगे कि कृपा वा आशीर्वाद करो। यह भी पढ़ाई है। इस गीता पाठशाला में स्वयं भगवान राजयोग सिखलाते हैं। कलियुग को बदलकर सतयुग जरूर बनना है। ड्रामा अनुसार बाप को भी आना है। बाप कहते हैं हम कल्प-कल्प संगमयुगे आता हूँ, और कोई थोड़ेही कह सकते कि हम सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान सुनाने आया हूँ। अपने को शिवोहम् कहते हैं, उससे क्या हुआ। शिवबाबा तो आते ही हैं पढ़ाने लिए, सहज राजयोग सिखाने लिए। कोई भी साधू-सन्त आदि को शिव भगवान नहीं कहा जा सकता। ऐसे तो बहुत कहते हैं-हम कृष्ण हैं, हम लक्ष्मी-नारायण हैं। अब कहाँ वह श्रीकृष्ण सतयुग का प्रिन्स, कहाँ यह कलियुगी पतित। ऐसे थोड़ेही कहेंगे इनमें भगवान् है। तुम मन्दिरों में जाकर पूछ सकते हो-यह तो सतयुग में राज्य करते थे फिर कहाँ गये? सतयुग के बाद जरूर त्रेता, द्वापर, कलियुग हुआ। सतयुग में सूर्यवंशी राज्य था, त्रेता में चन्द्रवंशी……. यह सब नॉलेज तुम बच्चों की बुद्धि में है। इतने ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ हैं, जरूर प्रजापिता भी होगा। फिर ब्रह्मा द्वारा मनुष्य सृष्टि रचते हैं। क्रियेटर ब्रह्मा को नहीं कहा जाता। वह फिर गॉड फादर है। कैसे रचते हैं, वह तो बाप सम्मुख ही बैठ समझाते हैं, यह शास्त्र तो बाद में बने हैं। जैसे क्राइस्ट ने समझाया, उनका बाइबिल बन गया। बाद में बैठ गायन करते हैं। सर्व का सद्गति दाता, सर्व का लिबरेटर, पतित-पावन एक बाप गाया हुआ है, उनको याद करते हैं कि हे गॉड फादर रहम करो। फादर एक होता है। यह है सारे वर्ल्ड का फादर। मनुष्यों को पता नहीं है कि सर्व दु:खों से लिबरेट करने वाला कौन है? अभी सृष्टि भी पुरानी, मनुष्य भी पुराने तमोप्रधान हैं। यह है ही आइरन एजेड वर्ल्ड। गोल्डन एज था ना, फिर होगा जरूर। यह विनाश हो जायेगा, वर्ल्ड वार होगी, अनेक कुदरती आपदायें भी होती हैं। समय तो यही है। मनुष्य सृष्टि कितनी वृद्धि को पाई हुई है।

तुम तो कहते रहते हो-भगवान आया हुआ है। तुम बच्चे सभी को चैलेन्ज देते हो कि ब्रह्मा द्वारा एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है। ड्रामा अनुसार सब सुनते रहते हैं। दैवीगुण भी धारण करते हैं। तुम जानते हो हमारे में कोई गुण नहीं था। नम्बरवन अवगुण है-काम विकार का, जो कितना हैरान करता है। माया की कुश्ती चलती है। न चाहते भी माया का तूफान गिरा देता है। आइरन एज तो है ना। काला मुँह कर देते हैं। सांवरा मुँह नहीं कहेंगे। कृष्ण के लिए दिखाते हैं सर्प ने डसा तो साँवरा हो गया। इज्जत रखने के लिए सांवरा कह दिया है। काला मुँह दिखाने से इज्ज़त चली जाए। तो दूरदेश, निराकार देश से मुसाफिर आते हैं। आइरन एजेड दुनिया, काले शरीर में आकर इनको भी गोरा बनाते हैं। अब बाप कहते हैं तुमको फिर सतोप्रधान बनना है। मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे और तुम विष्णुपुरी के मालिक बन जायेंगे। यह ज्ञान की बातें समझने की हैं। बाबा रूप भी है तो बसन्त भी है। तेजोमय बिन्दी रूप है। उनमें ज्ञान भी है। नाम-रूप से न्यारा तो है नहीं। उनका रूप क्या है, यह दुनिया नहीं जानती। बाप तुमको समझाते हैं, मुझे भी आत्मा कहते हैं सिर्फ सुप्रीम आत्मा। परम आत्मा सो मिलकर हो जाता परमात्मा। बाप भी है, टीचर भी है। कहते भी हैं नॉलेजफुल। वह समझते हैं नॉलेजफुल अर्थात् सबके दिलों को जानने वाला है। अगर परमात्मा सर्वव्यापी है तो फिर सब नॉलेजफुल हो गये। फिर उस एक को क्यों कहते? मनुष्यों की कितनी तुच्छ बुद्धि है। ज्ञान की बातों को बिल्कुल नहीं समझते। बाप ज्ञान और भक्ति का कान्ट्रास्ट बैठ बताते हैं-पहले है ज्ञान दिन सतयुग-त्रेता, फिर है द्वापर-कलियुग रात। ज्ञान से सद्गति होती है। यह राजयोग का ज्ञान हठयोगी समझा न सकें। न गृहस्थी समझा सकेंगे क्योंकि अपवित्र हैं। अब राजयोग कौन सिखलावे? जो कहते हैं मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश हों। निवृत्ति मार्ग का धर्म ही अलग है, वह प्रवृत्ति मार्ग का ज्ञान कैसे सुनायेंगे। यहाँ सब कहते हैं-गॉड फादर इज़ ट्रूथ। बाप ही सच सुनाने वाला है। आत्मा को बाबा की स्मृति आई है इसलिए हम बाप को याद करते हैं कि आकर सच्ची-सच्ची कथा सुनाओ नर से नारायण बनने की। यह तुमको सत्य नारायण की कथा सुनाता हूँ ना। आगे तुम झूठी कथायें सुनते थे। अभी तुम सच्ची सुनते हो। झूठी कथायें सुनते-सुनते कोई नारायण तो बन नहीं सकता फिर वह सत्य नारायण की कथा कैसे हो सकती? मनुष्य किसको नर से नारायण बना न सकें। बाप ही आकर स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। बाप आते भी भारत में हैं। परन्तु कब आते हैं, यह समझते नहीं हैं। शिव-शंकर को मिलाकर कहानियाँ बना दी हैं। शिव पुराण भी है। गीता कहते हैं कृष्ण की, फिर तो शिव पुराण बड़ा हो गया। वास्तव में नॉलेज तो गीता में है। भगवानुवाच-मनमनाभव। यह अक्षर गीता के सिवाए दूसरे कोई शास्त्रों में हो नहीं सकते। गाया भी जाता है सर्वशास्त्रमई शिरोमणी गीता। श्रेष्ठ मत है ही भगवान की। पहले-पहले यह बताना चाहिए कि हम कहते हैं थोड़े वर्ष के अन्दर नई श्रेष्ठाचारी दुनिया स्थापन हो जायेगी। अभी है भ्रष्टाचारी दुनिया। श्रेष्ठाचारी दुनिया में कितने थोड़े मनुष्य होंगे। अभी तो कितने ढेर मनुष्य हैं। उसके लिए विनाश सामने खड़ा है। बाप राजयोग सिखला रहे हैं। वर्सा बाप से मिलता है। मांगते भी बाप से हैं। कोई को धन जास्ती होगा, बच्चा होगा, कहेंगे भगवान ने दिया। तो भगवान एक हुआ ना फिर सबमें भगवान कैसे हो सकता? अब आत्माओं को बाप कहते हैं मुझे याद करो। आत्मा कहती है हमको परमात्मा ने ज्ञान दिया है जो फिर हम भाईयों को देते हैं। अपने को आत्मा समझकर बाप को कितना समय याद किया, इस चार्ट रखने में बड़ी विशालबुद्धि चाहिए। देही-अभिमानी हो बाप को याद करना पड़े तब विकर्म विनाश हों। नॉलेज तो बड़ी सहज है, बाकी आत्मा समझ बाप को याद करते अपनी उन्नति करनी है। यह चार्ट कोई बिरले रखते हैं। देही-अभिमानी हो बाप की याद में रहने से कभी किसको दु:ख नहीं देंगे। बाप आते ही हैं सुख देने तो बच्चों को भी सबको सुख देना है। कभी किसको दु:ख नहीं देना है। बाप की याद से सब भूत भागेंगे, बड़ी गुप्त मेहनत है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस आसुरी छी-छी दुनिया से अपनी आंखें बन्द कर लेनी है। यह पुरानी दुनिया है, इससे कोई कनेक्शन नहीं रखना है, इसे देखते हुए भी नहीं देखना है।

2) इस बेहद ड्रामा में हम पार्टधारी हैं, यह सेकेण्ड बाय सेकेण्ड रिपीट होता रहता है, जो पास्ट हुआ वह फिर रिपीट होगा… यह स्मृति में रख हर बात में पास होना है। विशालबुद्धि बनना है।

वरदान:- श्रेष्ठ वृत्ति द्वारा वृत्तियों का परिवर्तन करने वाले सदा सिद्धि स्वरूप भव
सिद्धि स्वरूप बनने के लिए वृत्ति द्वारा वृत्तियों को, संकल्प द्वारा संकल्पों को परिवर्तन करने का कार्य करो, इसकी रिसर्च करो। जब इस सेवा में बिजी हो जायेंगे तो यह सूक्ष्म सेवा स्वत:कई कमजोरियों से पार कर देगी। अभी इसका प्लैन बनाओ तो जिज्ञासू भी ज्यादा बढ़ेंगे, मदोगरी भी बहुत बढ़ेगी, मकान भी मिल जायेंगे-सब सिद्धियां सहज हो जायेंगी। यह विद्धि-सिद्धि स्वरूप बना देगी।
स्लोगन:- समय को सफल करते रहो तो समय के धोखे से बच जायेंगे।

TODAY MURLI 7 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 February 2019 :- Click Here

07/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, one way to become pure is with the power of remembrance and the other way is with the power of punishment. You have to become pure with the power of remembrance and claim a high status.
Question: The Father is the spiritual Surgeon. What type of patience has He come to give you?
Answer: Just as those surgeons reassure their patients and give them patience, saying that they will soon get better, in the same way, the spiritual Surgeonalso reassures you children: Children, don’t be afraid of the illness of Maya. The Surgeon is giving you medicine which will bring out all those illnesses. Thoughts you never had on the path of ignorance will also come. However, you have to tolerate everything. Make a little effort. Your days of happiness are now almost here.

Om shanti. The unlimited Father explains to all you children. You have to make sure the message that the Father has now come reaches everyone. The Father is giving you patience because on the path of devotion you called out: Baba, come and liberate us and free us from sorrow. The Father reassures you that only a few more days remain. When someone is recovering from an illness, they reassure him that he will now be OK. You children also understand that only a few more days remain in this dirty world and that you will then go to the new world. You have to become worthy of that. Then none of the illnesses etc. will trouble you. The Father gives you patience and says: Make a little effort. No one else can give you patience like that. You have become tamopradhan. The Father has now come to make you satopradhan once again. Now, all souls have to become pure: some with the power of yoga and others with the power of punishment: there is also the power of punishment. The status of those who become pure through punishment will be reduced. You children continue to receive shrimat. The Father says: Constantly remember Me alone and all your sins will be burnt away. If you don’t stay in remembrance, your sins will increase a hundred times because you have defamed Me by becoming sinful souls. People would say: Does God give them such directions that they have devilish behaviour? There are ups and downs. Children are defeated. Even good children are defeated, and so their sins are not cut away. Then that has to be suffered. This is a very dirty world and everything continues to happen here. You call out to the Father: Baba, come and show us the path to the future new world. Baba knows that, on this side, there is the old world and that on the other side, there is the new world. You are boats. You are now moving along to become the most elevated human beings. Your anchors have been raised from the old world. You have to remember the home to where you have to go. The Father has said: By remembering Me, your rust will be removed. There is either the power of yoga or the power of punishment. Every soul definitely has to become pure. No one can go back home without becoming pure. Everyone has received his own part. The Father says: This is your final birth. People say that the iron age is still in its infancy. This means that people will become even more unhappy than they are now. You Brahmins of the confluence age understand that this land of sorrow is now to end. The Father is giving you patience. The Father also said in the previous cycle: Constantly remember Me alone and the rust of your sins will be removed. I guarantee you this. He also explains that the iron age will definitely be destroyed and that the golden age will definitely come. You receive this guarantee. You children also have faith, but, because of not staying in remembrance, you perform one sinful act or another. You say: Baba, I become angry. That is also called an evil spirit. The five vices in this kingdom of Ravan cause sorrow. The karmic accounts of the end also have to be settled. This illness of lust emerges in those who were never troubled by the vice of lust previously. They say: I never had such bad thoughts before. So, why are they troubling me now? This is knowledge. Knowledge makes all the illnesses emerge. Devotion doesn’t make all the illnesses emerge. This is an impure, vicious world; there is 100% impurity. From being 100% impure you now have to become 100% pure. From being 100% corrupt the world has to become 100% pure and elevated. The Father says: I have come to take you children to the land of peace and the land of happiness. Remember Me and spin the world cycle. Do not perform any sinful acts. Imbibe the virtues that those deities had. Baba doesn’t cause you any difficulty. In some homes they have evil souls who set everything on fire and cause a lot of damage. At this time all human beings are evil. There is the suffering of karma in a physical way too. Souls cause one sorrow or another through bodies. Even if a soul doesn’t have a body he can still cause sorrow. Children have seen that which you call a ghost , like a white shadow. However, you mustn’t think about that. The more you remember the Father, the more all of that will end. Those are also karmic accounts. Daughters at home say that they want to remain pure. It is the soul that says this. Those who don’t have knowledge say: Don’t remain pure. Then there is a quarrel. There is then so much upheaval. You are now becoming pure souls. Those souls are impure and so they cause sorrow. They too are souls. They are called evil souls. They cause sorrow with bodies and also without bodies. Knowledge is easy. You have to become spinners of the discus of self-realisation. However, the main thing is purity. For this, you have to remember the Father with great happiness. Ravan is said to be evil. At this time, this world is evil. They continue to receive many types of sorrow from one another. Those who are impure are called evil. There are many types of the five vices in impure souls. Some have the habit of lust, some have the habit of anger, some have the habit of distressing others, and some have the habit of causing damage. Those who have the habit of lust become angry and would even hit someone if they don’t get it. This world is like that. Therefore, the Father comes and gives you patience: O souls, have patience! Continue to remember Me and also imbibe divine virtues. He doesn’t tell you not to do your business etc. Similarly, those in the military have to go into battle. They are told to stay in remembrance of Shiv Baba. They take the words of the Gita and believe that if they die on a battlefield they will go to heaven. This is why they go happily into battle. However, it is not like that. Baba now says: You can go to heaven, just simply remember Shiv Baba. You have to remember the one Shiv Baba and you will definitely go to heaven. Whoever comes, even if they become impure by going back, they will definitely go to heaven. They will experience punishment, become pure and then definitely go there. The Father is merciful. The Father explains: Don’t perform any sinful acts and you will become conquerors of sinful acts. This Lakshmi and Narayan are conquerors of sinful actions. Then, in the kingdom of Ravan, they also become those who commit sin. The era of King Vikram begins. People don’t know anything at all. You children now know how Lakshmi and Narayan became conquerors of sin. It would be said: There were the number one conquerors of sin, and then, after 2500 years, the era of those who perform sinful actions began. There is the story of the king who conquered attachment. The Father says: Become a conqueror of attachment. Constantly remember Me alone and your sins will be cut away. By becoming pure you can erase the sins that you have committed over 2500 years and make yourself satopradhan in these 50 to 60 years. If you don’t have the power of yoga, you will receive a number at the back. The rosary is very big. The rosary of Bharat is special. The whole play depends on this. The main thing in this is the pilgrimage of remembrance. There is no other difficulty in this. On the path of devotion, their intellects’ yoga is connected to many. All of them are the creation. No one can be benefited by having remembrance of them. The Father says: Do not remember anyone. Just as on the path of devotion you simply used to perform devotion, so now, at the end, remember Me alone. The Father explains to you so clearly. Previously, you didn’t know this. You have now received knowledge. The Father says: Break away from everyone else and connect yourself to the One and, with fire of Yoga your sins will be burnt. You have been committing a lot of sin. You have been using the sword of lust. You have been causing one another sorrow from its beginning through the middle to the end. The main thing is the sword of lust. That too is in the drama. You cannot ask why such a drama was created. This play is eternal. I also have a part in it. You cannot even ask when the drama was created or when it will end. A part is recorded in the soul. The plate of a soul never wears out. A soul is imperishable and has an imperishable part. The drama is also said to be imperishable. The Father who doesn’t take rebirth comes and explains all the secrets to you. No one else can explain to you the secrets of the beginning, middle and end of the world. They neither know the occupation of the Father nor of souls. The world cycle continues to turn. It is now the most auspicious confluence age when all human beings become elevated. In the land of peace, all souls are pure and elevated. The land of peace is the pure world. The new world is also pure. There is peace there. Then when you receive a body you play your part. We know that each one has received his own part. That is our home. We stay there in peace. We have to play our parts here. The Father now says: On the path of devotion, when you worshipped Me in an unadulterated way, you were not unhappy. Now that there is adulterated devotion you have become unhappy. The Father says: Now adopt divine virtues. So, why are there still devilish traits? You have called out to the Father to come and make you pure, so why do you become impure? In that too, you definitely have to conquer the main vice of lust and you will then become conquerors of the world. People say of God: He is a worshipper and He is worthy of worship. That means they bring Him down. By such sins being committed, the world has become greatly vicious. In the Garuda Purana they speak of the extreme depths of hell where scorpions and lizards bite. Look what they have sat and written in the scriptures! The Father has explained: All the scriptures etc. also belong to the path of devotion. No one can meet Me through those. They have become even more tamopradhan. This is why they call out to Me to come and make them pure which means they are impure. People don’t understand anything at all. Those whose intellects have faith become victorious. They gain victory over Ravan and go into the kingdom of Rama. The Father says: Conquer lust. There is upheaval because of this. They say: Why should we renounce nectar and drink poison? When they hear the name ‘nectar’ they think that it emerges from the Gaumukh (cow’s mouth). The water of the Ganges cannot be called nectar. It refers to the nectar of knowledge. A wife washes the feet of her husband and drinks that water considering it to be nectar. If that were nectar she would become like a diamond. The Father gives you this knowledge through which you become like diamonds. They have glorified water so much. You give the nectar of knowledge to drink and they give water. No one knows about you Brahmins. They speak of the Kauravas and the Pandavas, but they don’t consider the Pandavas to be Brahmins. These words are not mentioned in the Gita so they do not consider the Pandavas to be Brahmins. The Father sits here and explains the essence of all the scriptures. He says to you children: J udge between what you have studied in the scriptures and what I tell you. You know that whatever you heard previously was wrong and that you are now listening to that which is right. The Father has explained: All of you are Sitas, devotees. It is only Rama, God, who gives the fruit of devotion. He says: I come to give the fruit. You know that you experience infinite happiness in heaven. At that time, all the rest are in the land of peace. They do receive peace. There, in that world, there was happiness, peace and purity; there was everything. You explain that when there was just the one religion in the world, there was peace but, nevertheless, they don’t understand. Hardly anyone stays here. At the end, many will come. Where else would they go? This is the only shop. When a shopkeeper has good things to sell, he has them at a fixed rate. This is Shiv Baba’s shop. He is incorporeal. Brahma is also definitely needed. You are called Brahma Kumars and Kumaris. You are not called Shiv Kumaris. Brahmins are also definitely needed. How could you become deities without becoming Brahmins? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to imbibe virtues like those of the deities. The evil sanskars you have in you, such as the habit of anger etc., have to be removed. You have to become conquerors of sin. Therefore, don’t perform any sinful actions.
  2. In order to become as elevated as diamonds, drink and give others to drink the nectar of knowledge. Gain total victory over the vice of lust. Make yourself satopradhan. Settle all your old karmic accounts with the power of remembrance.
Blessing: May you be a soul who experiments with the facilities and becomes victorious over them with the spiritual endeavour of easy yoga.
While having facilities and experimenting with them, let your stage of yoga not fluctuate. To be a yogi and to experiment is called being detached. Being instrument while having everything, free yourself from any attraction to it and experiment with it. If you have any desires, those desires will not let you become good and your time will be spent in making effort. At that time, even though you will try to maintain your spiritual endeavour, the facilities will attract you. Therefore, be a soul who experiments and with the spiritual endeavour of easy yoga, be victorious over the facilities, that is, over matter.
Slogan: To remain content and make everyone content is to be a jewel of contentment.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 February 2019

To Read Murli 6 February 2019 :- Click Here
07-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – पावन बनने के लिए एक है याद का बल, दूसरा है सजाओं का बल, तुम्हें याद के बल से पावन बन ऊंच पद पाना है”
प्रश्नः- बाप रूहानी सर्जन है, वह तुम्हें कौन-सा धीरज देने आये हैं?
उत्तर:- जैसे वह सर्जन रोगी को धीरज देते हैं कि अभी बीमारी ठीक हो जायेगी, ऐसे रूहानी सर्जन भी तुम बच्चों को धीरज देते हैं – बच्चे, तुम माया की बीमारी से घबराओ नहीं, सर्जन दवा देते हैं तो यह बीमारियां सब बाहर निकलेंगी, जो ख्यालात अज्ञान में भी नहीं आये होंगे, आयेंगे। लेकिन तुम्हें सब सहन करना है। थोड़ा मेहनत करो, तुम्हारे अब सुख के दिन आये कि आये।

ओम् शान्ति। बेहद का बाप सभी बच्चों को समझाते हैं – तुम सबको पैगाम पहुँचाना है कि अब बाप आये हैं। बाप धीरज दे रहे हैं क्योंकि भक्ति मार्ग में बुलाते हैं – बाबा आओ, लिबरेट करो, दु:ख से छुड़ाओ। तो बाप धीरज देते हैं, बाकी थोड़े रोज़ हैं। कोई की बीमारी छूटने पर होती है तो कहते हैं अब ठीक हो जायेगी। बच्चे भी समझते हैं कि इस छी-छी दुनिया में बाकी थोड़ा रोज़ हैं फिर हम नई दुनिया में जायेंगे। उसके लिए हमको लायक बनना है फिर कोई भी रोग आदि तुमको नहीं सतायेंगे। बाप धैर्य देकर कहते हैं – थोड़ी मेहनत करो। और कोई नहीं जो ऐसे धीरज दे। तुम ही तमोप्रधान हो गये हो। अब बाप आये हैं तुमको फिर से सतोप्रधान बनाने के लिए। अभी सभी आत्मायें पवित्र बन जायेंगी – कोई योगबल से, कोई सजाओं के बल से। सज़ाओं का भी बल है ना। सजाओं से जो पवित्र बनेंगे उनका पद कम हो जायेगा। तुम बच्चों को श्रीमत मिलती रहती है। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो, तुम्हारे सब पाप भस्म हो जायेंगे। अगर याद नहीं करेंगे तो पाप सौ गुणा बन जायेगा क्योंकि पाप आत्मा बन तुम मेरी निंदा कराते हो। मनुष्य कहेंगे इनको ईश्वर ऐसी मत देते हैं जो आसुरी चलन दिखाते हैं! लाही-चाढ़ी (उतराव-चढ़ाव) भी होता है ना। बच्चे हार भी खाते हैं। अच्छे-अच्छे बच्चे भी हार खाते हैं। तो पाप कटते ही नहीं हैं। फिर भोगना भी पड़ता है। यह बहुत छी-छी दुनिया है, इसमें सब कुछ होता रहता है। बाप को बुलाते ही हैं कि बाबा आकर हमको भविष्य नई दुनिया के लिए रास्ता बताओ। बाबा जानते हैं – उस तरफ है पुरानी दुनिया, इस तरफ है नई दुनिया। तुम हो नैया। अब तुम पुरुषोत्तम बनने के लिए चल रहे हो। तुम्हारा इस पुरानी दुनिया से लंगर उठ गया है। तो जहाँ जा रहे हो उस घर को ही याद करना है। बाप ने कहा है मेरे को याद करने से तुम्हारी कट उतरेगी। या तो है योगबल या सजायें। हरेक आत्मा पवित्र तो जरूर बननी है। पवित्र बनने बिगर वापिस तो कोई जा नहीं सकते। सबको अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। बाप कहते हैं यह है तुम्हारा अन्तिम जन्म। मनुष्य कहते हैं कलियुग अजुन छोटा बच्चा है। गोया मनुष्य अभी इससे भी और दु:खी होंगे। तुम संगमयुगी ब्राह्मण समझते हो यह दु:खधाम तो अभी ख़त्म होना है। बाप धीरज देते हैं। कल्प पहले बाप ने कहा था मामेकम्, मुझे याद करो तो पापों की कट उतर जायेगी। यह मैं गैरन्टी करता हूँ। यह भी समझाते हैं कलियुग का विनाश जरूर होना है और सतयुग भी जरूर आना है। ख़ातिरी मिलती है, बच्चों को निश्चय भी है। परन्तु याद न ठहरने के कारण कोई न कोई विकर्म कर लेते हैं। कहते हैं बाबा क्रोध आ जाता है, इसको भी भूत कहा जाता है। 5 भूत दु:ख देते हैं इस रावण राज्य में। यह पिछाड़ी का हिसाब-किताब भी चुक्तू करना है, जिनको आगे कभी काम विकार नहीं सताता था, उनको भी बीमारी इमर्ज हो जाती है। कहते हैं आगे तो ऐसा विकल्प कभी नहीं आया, अब क्यों सताता है? यह ज्ञान है ना। ज्ञान सारी बीमारी को बाहर निकालता है। भक्ति सारी बीमारी को नहीं निकालती। यह है ही अशुद्ध विकारी दुनिया, 100 परसेन्ट अशुद्धता है। 100 परसेन्ट पतित से फिर 100 परसेन्ट पावन होना है। 100 परसेन्ट भ्रष्टाचारी से 100 परसेन्ट पावन श्रेष्ठाचारी दुनिया बननी है।

बाप कहते हैं मैं आया हूँ तुम बच्चों को शान्तिधाम-सुखधाम ले चलने के लिए। तुम मुझे याद करो और सृष्टि चक्र को फिराओ। कोई भी विकर्म नहीं करो। जो गुण इन देवताओं में हैं ऐसे गुण धारण करने हैं। बाबा कोई तकल़ीफ नहीं देते हैं। कोई-कोई घरों में भी इविल सोल होती हैं तो आग लगा देती है, नुकसान करती है। इस समय मनुष्य ही सब इविल हैं ना। स्थूल में भी कर्मभोग होता है। आत्मा एक-दो को दु:ख देती है शरीर द्वारा, शरीर नहीं है तो भी दु:ख देती है। बच्चों ने देखा है जिसको घोस्ट कहते हैं वह सफेद छाया मुआफिक देखने में आते हैं। परन्तु उनका कुछ ख्याल नहीं करना होता है। तुम जितना बाप को याद करेंगे उतना यह सब ख़त्म होते जायेंगे। यह भी हिसाब-किताब है ना।

घर में बच्चियां कहती हैं – हम पवित्र रहना चाहती हैं। यह आत्मा कहती है। और जिनमें ज्ञान नहीं है, वह कहते हैं पवित्र नहीं बनो। फिर झगड़ा हो पड़ता है। कितना हंगामा होता है। अब तुम पवित्र आत्मा बन रहे हो। वह हैं अपवित्र, तो दु:ख देते हैं। हैं तो आत्मा ना। उनको कहा जाता है इविल आत्मा। शरीर से भी, तो बिगर शरीर भी दु:ख देते हैं। ज्ञान तो सहज है। स्वदर्शन चक्रधारी बनना है। बाकी मुख्य है पवित्रता की बात। इसके लिए बाप को खुशी से याद करना है। रावण को इविल कहेंगे ना। इस समय यह दुनिया है ही इविल। एक-दो से अनेक प्रकार के दु:ख पाते रहते हैं। इविल पतित को कहा जाता है। पतित आत्मा में भी 5 विकार अनेक प्रकार के होते हैं। कोई में विकार की आदत, कोई में क्रोध की आदत, कोई में तंग करने की आदत, कोई में नुकसान करने की आदत होती है। कोई में विकार की आदत होगी तो विकार न मिलने कारण क्रोध में आकर बहुत मारते भी हैं। यह दुनिया ही ऐसी है। तो बाप आकर धीरज देते हैं – हे आत्मायें, बच्चों धीरज धरो, मुझे याद करते रहो और दैवीगुण भी धारण करो। ऐसे भी नहीं कहते हैं कि धन्धा आदि नहीं करो। जैसे मिलेट्री वालों को लड़ाई में जाना पड़ता है तो उन्हों को भी कहा जाता है शिवबाबा की याद में रहो। गीता के अक्षरों को उठाए वह समझते हैं हम युद्ध के मैदान में मरेंगे तो स्वर्ग में जायेंगे इसलिए खुशी से लड़ाई में जाते हैं। परन्तु वह तो बात ही नहीं। अब बाबा कहते हैं तुम स्वर्ग में जा सकते हो सिर्फ शिवबाबा को याद करो। याद तो एक शिवबाबा को ही करना है तो स्वर्ग में जरूर जायेंगे। जो भी आते हैं भल फिर जाकर पतित बनते हैं तो भी स्वर्ग में जरूर आयेंगे। सजायें खाकर, पावन बनकर फिर भी आयेंगे जरूर। बाप रहमदिल है ना। बाप समझाते हैं कोई विकर्म न करो तो विकर्माजीत बनेंगे। यह लक्ष्मी-नारायण विकर्माजीत हैं ना। फिर रावण राज्य में विकर्मी बन जाते हैं। विक्रम संवत शुरू होता है ना। मनुष्यों को तो कुछ भी पता नहीं है। तुम बच्चे अभी जानते हो यह लक्ष्मी-नारायण विकर्माजीत बने हैं। कहेंगे विकर्माजीत नम्बरवन फिर 2500 वर्ष के बाद विक्रम संवत शुरू होता है। मोहजीत राजा की कहानी है ना। बाप कहते हैं नष्टोमोहा बनो। मामेकम् याद करो तो पाप कटेंगे। जो 2500 वर्ष में पाप हुए है वह 50-60 वर्ष में तुम स्वयं को सतोप्रधान बना सकते हो। अगर योगबल नहीं होगा तो फिर नम्बर पीछे हो जायेंगे। माला तो बहुत बड़ी है। भारत की माला तो ख़ास है। जिस पर ही सारा खेल बना हुआ है। इसमें मुख्य है याद की यात्रा, और कोई तकलीफ नहीं है। भक्ति में तो अनेकों से बुद्धियोग लगाते हैं। यह सब है रचना। उनकी याद से किसका भी कल्याण नहीं होगा। बाप कहते हैं किसको भी याद नहीं करो। जैसे भक्ति मार्ग में पहले सिर्फ तुम भक्ति करते थे अब फिर पिछाड़ी में भी मुझे याद करो। बाप कितना क्लीयर समझाते हैं। आगे थोड़ेही जानते थे। अभी तुमको ज्ञान मिला है। बाप कहते हैं और संग तोड़ एक संग जोड़ो तो योग अग्नि से तुम्हारे पाप भस्म हो जायेंगे। पाप तो बहुत करते आये हो। काम कटारी चलाते हो। एक-दो को आदि-मध्य-अन्त दु:ख देते आये हो। मूल बात है काम कटारी की। यह भी ड्रामा है ना। ऐसे भी नहीं कहेंगे ऐसा ड्रामा क्यों बना? यह तो अनादि खेल है। इसमें मेरा भी पार्ट है। ड्रामा कब बना, कब पूरा होगा – यह भी नहीं कह सकते। यह तो आत्मा में पार्ट भरा हुआ है। आत्मा की जो प्लेट है वह कब घिसती नहीं है। आत्मा अविनाशी है, उसमें पार्ट भी अविनाशी है। ड्रामा भी अविनाशी कहा जाता है। बाप जो पुनर्जन्म में नहीं आते हैं वो ही आकर सब राज़ समझाते हैं। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ कोई भी नहीं समझा सकते। न बाप का आक्यूपेशन, न आत्मा का, कुछ भी जानते नहीं। यह सृष्टि का चक्र फिरता ही रहता है।

अब पुरुषोत्तम संगमयुग है, जब सब मनुष्यमात्र उत्तम पुरुष बन जाते हैं। शान्तिधाम में सब आत्मायें पवित्र उत्तम बन जाती हैं। शान्तिधाम पावन है ना। नई दुनिया भी पवित्र है। वहाँ शान्ति तो है ही, फिर शरीर मिलने से पार्ट बजाते हैं। यह हम जानते हैं, हरेक को पार्ट मिला हुआ है। वह हमारा घर है, शान्ति में रहते हैं। यहाँ तो पार्ट बजाना है। अब बाप कहते हैं भक्ति मार्ग में तुमने मेरी अव्यभिचारी पूजा की। दु:खी नहीं थे। अभी व्यभिचारी भक्ति में आने से तुम दु:खी बन पड़े हो। अब बाप कहते हैं दैवी गुण धारण करो फिर भी आसुरी गुण क्यों? बाप को बुलाया कि हमको आकर पावन बनाओ। फिर पतित क्यों बनते हो? उसमें भी ख़ास काम को जरूर जीतना है तो तुम जगतजीत बनेंगे। मनुष्य तो भगवान् के लिए कह देते हैं आपेही पूज्य आपेही पुजारी। गोया उनको नीचे ले आते हैं। ऐसे पाप करते-करते महा-विकारी दुनिया बन जाती है। गरुड़ पुराण में भी रौरव नर्क कहते हैं, जहाँ बिच्छू टिण्डन सब काटते रहते हैं। शास्त्रों में क्या-क्या बैठ दिखाया है। यह भी बाप ने समझाया है यह शास्त्र आदि सब भक्ति मार्ग के हैं। इनसे कोई भी मेरे साथ नहीं मिलते हैं। और ही तमोप्रधान बन पड़े हैं इसलिए मुझे बुलाते हैं कि आकर पावन बनाओ तो पतित ठहरे ना। मनुष्य तो कुछ भी समझते नहीं हैं। जो निश्चय बुद्धि हैं वह तो विजयी हो जाते हैं। रावण पर विजय पाकर रामराज्य में आ जाते हैं। बाप कहते हैं काम पर जीत पाओ, इस पर ही हंगामा होता है। गाते हैं अमृत छोड़ विष क्यों खाते हो? अमृत नाम सुनकर समझते हैं गऊमुख से अमृत निकलता है। अरे, गंगा जल को थोड़ेही अमृत कहा जाता है। यह तो ज्ञान अमृत की बात है। स्त्री पति के चरण धोकर पीती है, उनको भी अमृत समझते हैं। अगर अमृत है तो फिर हीरे समान बनें ना। यह तो बाप ज्ञान देते हैं जिससे तुम हीरे जैसा बनते हो। पानी का नाम कितना बाला कर दिया है। तुम ज्ञान अमृत पिलाते वह पानी पिलाते हैं। तुम ब्राह्मणों का किसको भी पता नहीं है। वह कौरव-पाण्डव कहते हैं परन्तु पाण्डवों को ब्राह्मण थोड़ेही समझते हैं। गीता में ऐसे अक्षर हैं नहीं, जो पाण्डवों को ब्राह्मण समझें। बाप बैठ सब शास्त्रों का सार समझाते हैं। बच्चों को कहते हैं शास्त्रों में जो कुछ पढ़ा है और जो कुछ मैं सुनाता हूँ उसको जज करो। तुम जानते हो आगे हम जो सुनते थे वह रांग था, अब राइट सुनते हैं।

बाप ने समझाया है तुम सब सीतायें अथवा भक्तियां हो। भक्ति का फल देने वाला है राम भगवान्। कहते हैं मैं आता हूँ फल देने। तुम जानते हो हम स्वर्ग में अपार सुख भोगते हैं। उस समय बाकी सब शान्तिधाम में रहते हैं। शान्ति तो मिलती है ना। वहाँ विश्व में सुख-शान्ति-पवित्रता सब-कुछ है। तुम समझाते हो जबकि विश्व में एक धर्म था तब ही शान्ति थी। फिर भी समझते नहीं हैं। ठहरता कोई मुश्किल है। पिछाड़ी में बहुत आयेंगे। जायेंगे कहाँ! यह एक ही हट्टी है। जैसे दुकानदार की चीज़ अच्छी होती है तो दाम एक होता है। यह तो शिवबाबा की हट्टी है, वह है निराकार। ब्रह्मा भी जरूर चाहिए। तुम कहलाते हो ब्रह्माकुमार-कुमारियां। शिव कुमारियां तो नहीं कहला सकते हो। ब्राह्मण भी जरूर चाहिए। ब्राह्मण बनने बिगर देवता कैसे बनेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देवताओं जैसे गुण स्वयं में धारण करने हैं, अन्दर जो भी ईविल संस्कार हैं, क्रोध आदि की आदत है, उसे छोड़ना है। विकर्माजीत बनना है इसलिए अब कोई भी विकर्म नहीं करना है।

2) हीरे समान श्रेष्ठ बनने के लिए ज्ञान अमृत पीना और पिलाना है। काम विकार पर सम्पूर्ण विजय पानी है। स्वयं को सतोप्रधान बनाना है। याद के बल से सब पुराने हिसाब-किताब चुक्तू करने हैं।

वरदान:- सहज योग की साधना द्वारा साधनों पर विजय प्राप्त करने वाले प्रयोगी आत्मा भव
साधनों के होते, साधनों को प्रयोग में लाते योग की स्थिति डगमग न हो। योगी बन प्रयोग करना इसको कहते हैं न्यारा। होते हुए निमित्त मात्र, अनासक्त रूप से प्रयोग करो। अगर इच्छा होगी तो वह इच्छा अच्छा बनने नहीं देगी। मेहनत करने में ही समय बीत जायेगा। उस समय आप साधना में रहने का प्रयत्न करेंगे और साधन अपनी तरफ आकर्षित करेंगे इसलिए प्रयोगी आत्मा बन सहजयोग की साधना द्वारा साधनों के ऊपर अर्थात् प्रकृति पर विजयी बनो।
स्लोगन:- स्वयं सन्तुष्ट रह, सबको सन्तुष्ट करना ही सन्तुष्टमणि बनना है।
Font Resize