6 september ki murli

TODAY MURLI 6 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 6 September 2020

06/09/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
16/03/1986

Spiritual Drill.

BapDada is looking at all the children’s sweet silence stage, to see to what extent you have practised becoming stable in the stage of silence in a second. Are you able to stabilise in this stage when you want or does it take time? Your eternal form is of sweet silence, whereas your original form is of coming into sound. However, your original and eternal sanskar is of silence. So, whilst knowing your eternal sanskar, your eternal form and your eternal nature, are you able to stabilise in that form when you want? You have had 84 births of coming into sound and your practice has therefore always been of coming into sound. However, because of your eternal form and because it is now the end of the cycle, you have to return to the home of silence. The time to go home is now close. It is now the time to finish all the parts of the beginning, middle and end, the three aspects of time and to become stable in your eternal form and your eternal stage. This is why, at this time, this practice is more necessary. Check yourself to see whether you have become a conqueror of your physical organs. When you don’t want to come into sound, does the sound of the mouth pull you? This is called spiritual drill.

Just as, these days, they say that the cure for all illnesses is exercise, similarly, to make the soul powerful at this time, you need to practise this spiritual exercise. No matter what the atmosphere around you may be like, even if there is some disturbance, whilst staying in the midst of sound, you now have to practise over a long period of time being in the stage beyond sound. It is not a big thing to create a peaceful stage in a peaceful atmosphere. You now need to practise being peaceful in the midst of peacelessness. Do you know how to have such practice? Whether it is the disturbance of your weaknesses or the disturbance of waste thoughts because of your sanskars, are you able to make yourself unshakeable amidst such a disturbance or does it take time? When it takes time, it can deceive you at any time. At the time of completion (at the end), you are not going to get a lot of time. The paper of the final result will only be a few seconds or a few minutes. However, you will receive a number on the basis of the extent to which you remain unshakeable in the midst of an atmosphere of disturbance all around. If you have had the practice over a long time of taking time to become unshakeable in an atmosphere of disturbance, then what will be the result at the end? Therefore, practise the exercise of spiritual drill. You need to be able to stabilise your mind wherever you want for as long as you want. The final paper is very easy and you have been told in advance what paper you are going to get, but the number will be given in a very short space of time. Let your stage also be powerful.

While each of you has everything – a body, relations of your body, sanskars of your body, people, possessions, vibrations, and the atmosphere – let none of them attract you. This is called being a conqueror of attachment and having a powerful form. So, do you have such a practice? People will be crying, whereas you will remain unshakeable. No matter how much the elements of nature and Maya come to make their final claim and pull you to themselves, you have to remain absorbed in the love of the Father, whilst being loving and detached: this is called seeing and yet not seeing, hearing and yet not hearing. Let there be such a practice. This is called the stage of being in the sweet silence form. Nevertheless, BapDada is giving you time. If there is anything missing, you can fill in that gap now, because you have been told about the account of a long period of time. So, you now have a small chance and you therefore have to pay full attention to this practice. Whether you pass with honours or simply pass with pass marks, it all depends on this practice. Do you have such a practice? When the bell of time rings, will you be ready or will you think that you still have to get ready? The rosary of the eight jewels is small because of this particular practice. It is of a very short time. You people say that everyone has a right to claim the inheritance of liberation or liberation-in-life in a second. So, to receive a number at the time of completion is also a matter of a short time. However, let there not be the slightest disturbance. Simply say, “a point” and become stable in that stage. The point should not fluctuate. It should not be that at that time you begin to practise: “I am a soul, I am a soul”. That will not work, because you have already been told that the attack will be from all sides. Everything will have a last trial. However much power the elements have, however much power Maya has, they will all come to test you. It is their last trial (test) and also your last (final) stage of being karmateet and free from karmic bondage. The scenes on both sides will be very powerful. They will be in full force and these will be in full force. However, your victory in just a second will cause the drums of victory to beat. Do you understand what the last paper is? You all have and must keep the pure thought of wanting to be number one. So, only when you win in everything everywhere, will you become number one. If you have the slightest wasteful thought in any single situation or if your time is wasted, your number will go down. So, check everything. Check all around you. Double foreigners want to go fast in everything. Therefore, starting from now, make intense effort and pay full attention to this practice. Do you understand? You know the question and you also know the time. So, all of you should pass. If you know the question in advance, you are able to prepare yourself and then pass. All of you are those who are going to pass, are you not? Achcha.

This season, BapDada has kept the treasure-store open for meeting everyone. Baba will tell you later about what is to happen in the future. You will now, of course. take whatever you have come to take from the open treasure-store. The scenes of the drama always keep changing, but this season, whether it is the people of Bharat or the double foreigners, all have received special blessings. BapDada will fulfil the promise He has made. Eat the fruit of this season, and that fruit is the meeting and blessings. All of you have come to eat the fruit of the season, have you not? BapDada is also pleased to see the children, but everything has to be considered in the physical world. At least enjoy yourselves now. Baba will then tell you about it at the end of the season.

Although the places where you serve are different, the aim of doing service is the same. The zeal and enthusiasm is the same, and BapDada therefore gives all the places special importance. It isn’t that one place is more important than another. Whatever place children have gone to, one special result or another will definitely emerge from that place. Whether the result of some is visible quickly and the result of others is according to the time, every place still has a speciality. So many good jewels have emerged. Do not think that you are ordinary. All of you are special. If any of you were not special, you would not have reached the Father. There are specialities, but some use their specialities for service, whereas others are at the moment getting ready to use them for service. However, all of you are special souls. All of you are maharathis and mahavirs. If Baba were to praise each one, a long rosary would be prepared. If you look at the Shaktis, each one of the Shaktis is a great soul and visible as a world-benefactor soul. You are like that, are you not? Or, are you just benefactors of your own places? Achcha.

Amrit vela is the time for elevated attainments.

Today, the Master of the Spiritual Garden is looking at his spiritual rose garden. It is only at this confluence age that such a spiritual rose garden is created by BapDada. BapDada is seeing the fragrance of spirituality of the spiritual roses and also seeing the beauty of the spiritual roses in bloom. All are fragrant but the fragrance of some is permanent, whereas the fragrance of others lasts for only a short time. Some roses are always in bloom, whereas others are sometimes in bloom but they wilt at other times because of the heat or the weather. Nevertheless, each one is a spiritual rose in the garden of the Master of the Spiritual Garden. Some spiritual roses especially have the fragrance of knowledge. Some roses especially have the fragrance of remembrance, some have the fragrance of dharna and others especially have the fragrance of doing service. Some are such roses that they are full of all types of fragrance. So, in a garden, on whom would your vision fall first of all? On those flowers whose fragrance attracts you from a distance! Everyone’s vision would first of all be drawn to those. The Master of the Spiritual Garden always sees His spiritual roses, but numberwise. He also has love for each of you roses because you have deep love for the Master of the Garden. The flowers have love for their Master, and the Master has love for His flowers. However, the spiritual roses that can always be kept in a showcase are those that are always full of all types of fragrance and always in bloom. Wilted ones are never kept in a showcase. Every day at amrit vela, whilst giving the special sustenance of love and power, BapDada celebrates a meeting with the spiritual roses.

Amrit vela is the special time for receiving sustenance from God. Amrit vela is the special time for celebrating a meeting with God. It is the time for having a spiritual conversation. Amrit vela is the time for easily attaining blessings from the treasure-store of blessings of the Innocent Lord. The memorial of attaining whatever fruit you desire from the Innocent Lord comes from this time of amrit vela. It is the time for attaining treasures from the open treasure-store without making effort. You know about this beautiful time from your experience, do you not? Only those who are experienced would know of this elevated happiness and elevated attainments. So, BapDada is pleased to see all the spiritual roses. BapDada also says: Wah! My spiritual roses! You sing the song of “Wah! wah!” and so BapDada also sings this same song. Do you understand?

You have heard many murlis. Having heard them, you have now become full. You are now making plans to become great donors and distribute everything. This enthusiasm is very good. Today, it is the turn of those from the U.K., that is, of those who remain O.K. BapDada always smiles on hearing an expression of the double foreigners. What is that? “Thank you.” Whilst saying “Thank you”, you also continue to remember the Father, because first of all, you say “Thank You” to the Father from your heart. So, whenever you say “Thank you” to anyone, you would first of all remember the Father, would you not? In Brahmin life, thanks are first of all automatically for the Father. Whilst sitting and walking around, you say “Thank you” many times. This is also a method to remember the Father. Those of you from the U.K. have become instruments to enable those with different limited powers to come together. There are powers of many types of knowledge. You have enabled those with different powers, those from different sectors, from different religions and different languages to come together into the one Brahmin clan, into the Brahmin religion and the Brahmin language. Brahmins have their own language which new people cannot understand. They wonder what you are talking about. So, Brahmins have their own language and their own dictionary. So, those of you from the U.K. remain busy uniting everyone, do you not? There is a good number of you, and there is also deep love. Each place has its own speciality, but today, Baba is speaking of those from the U.K. The speciality of having love for the yagya and being co-operative with the yagya is very clearly visible. You are claiming a good number in first of all putting aside a share for the yagya, that is, for Madhuban, at every step. The direct remembrance of Madhuban becomes a special lift. In every task and at every step, there is remembrance of Madhuban, that is, of the Father, the Father’s study, the Father’s Brahma bhojan and meeting the Father. Madhuban automatically reminds you of the Father. Wherever you live, to remember Madhuban means to have special love, which becomes a lift. You are then liberated from making effort to climb up. You just put the switch on and arrive there in a second.

BapDada doesn’t want other diamonds or pearls. For the Father, even something tiny that is given with love is like a jewel. This is why the uncooked rice of Sudama has been remembered. The meaning of that is: even with a tiny needle, you remember Madhuban with love. So, that too becomes an invaluable jewel, because the value is in the love. The value is of love. If someone gives quite of lot of something, but without love, that is not accumulated, whereas if you give even a little with love, then multimillion-fold is accumulated. So, the Father likes it when there is love. So, the speciality of those from the U.K. is that they have had love for the yagya and have been co-operating with the yagya from the beginning. This is also easy yoga. Co-operation is easy yoga. When you have a thought of co-operating, it is the Father you remember, is it not? So those who are co-operative automatically become easy yogis. You have yoga with the Father and with Madhuban, that is, with BapDada. So, even those who become co-operative claim a good number in the subject of easy yoga. The Father loves co-operation from the heart. This is why the memorial, the Dilwala Temple, is built here. So, the Father, the Conqueror of Hearts, loves love from the heart and co-operation from the heart. Those with small hearts become happy with small deals whereas those with big hearts make unlimited deals. The foundation is a big heart and so the growth is also very big. You must have seen some trees where even the branches become like the trunk. So the trunk and the branches have emerged from the foundation of the U.K. Now, even those branches have become trunks and branches are emerging from those trunks. For instance, Australia, America, Europe and Africa emerged. All have become trunks. And the branches from each of the trunks are also growing very well because the foundation becomes strong with the water of love and co-operation. This is why the growth is good and the fruit is also good. Achcha.

Blessing: May you be humble-hearted and by renouncing the consciousness of the body, be free from anger.
The children who renounce the consciousness of their body can never get angry, because there are two reasons for getting angry. 1. When someone tells lies. 2. When someone causes defamation. These two things give birth to anger. In such situations, with the blessing of being humble-hearted, have mercy on those who defame you, embrace those who insult you, consider those who defame you to be your friends and it would then be said to be a wonder. When you show such transformation, you will be revealed to the world.
Slogan: In order to experience pleasure, renounce any dependency on Maya and become free.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 6 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

06-09-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 16-03-86 मधुबन

रुहानी ड्रिल

बापदादा सभी बच्चों की स्वीट साइलेन्स की स्थिति को देख रहे हैं। एक सेकेण्ड में साइलेन्स की स्थिति में स्थित हो जाना यह प्रैक्टिस कहाँ तक की है? इस स्थिति में जब चाहें तब स्थित हो सकते हैं वा समय लगता है? क्योंकि अनादि स्वरूप स्वीट साइलेन्स है। आदि स्वरूप आवाज में आने का है। लेकिन अनादि अविनाशी संस्कार साइलेन्स है। तो अपने अनादि संस्कार, अनादि स्वरूप को, अनादि स्वभाव को जानते हुए जब चाहो तब उस स्वरूप में स्थित हो सकते हो? 84 जन्म आवाज में आने के हैं इसलिए सदा अभ्यास आवाज में आने का है। लेकिन अनादि स्वरूप और फिर इस समय चक्र पूरा होने के कारण वापिस साइलेन्स होम में जाना है। अब घर जाने का समय समीप है। अब आदि मध्य अन्त तीनों ही काल का पार्ट समाप्त कर अपने अनादि स्वरूप, अनादि स्थिति में स्थित होने का समय है इसलिए इस समय यही अभ्यास ज्यादा आवश्यक है। अपने आपको चेक करो कि कर्मेन्द्रिय-जीत बने हैं? आवाज में नहीं आने चाहें तो यह मुख का आवाज अपनी तरफ खींचता तो नहीं है। इसी को ही रूहानी ड्रिल कहा जाता है।

जैसे वर्तमान समय के प्रमाण शरीर के लिए सर्व बीमारियों का इलाज एक्सरसाइज सिखाते हैं, तो इस समय आत्मा को शक्तिशाली बनाने के लिए यह रूहानी एक्सरसाइज का अभ्यास चाहिए। चारों ओर कैसा भी वातावरण हो, हलचल हो लेकिन आवाज में रहते आवाज से परे स्थिति का अभ्यास अभी बहुत काल का चाहिए। शान्त वातावरण में शान्ति की स्थिति बनाना यह कोई बड़ी बात नहीं है। अशान्ति के बीच आप शान्त रहो यही अभ्यास चाहिए। ऐसा अभ्यास जानते हो? चाहे अपनी कमजोरियों की हलचल हो, संस्कारों के व्यर्थ संकल्पों की हलचल हो। ऐसी हलचल के समय स्वयं को अचल बना सकते हो वा टाइम लग जाता है? क्योंकि टाइम लगना यह कभी भी धोखा दे सकता है। समाप्ति के समय में ज्यादा समय नहीं मिलना है। फाइनल रिजल्ट का पेपर कुछ सेकण्ड और मिनटों का ही होना है। लेकिन चारों ओर की हलचल के वातावरण में अचल रहने पर ही नम्बर मिलना है। अगर बहुतकाल हलचल की स्थिति से अचल बनने में समय लगने का अभ्यास होगा तो समाप्ति के समय क्या रिजल्ट होगी? इसलिए यह रूहानी एक्सरसाइज का अभ्यास करो। मन को जहाँ और जितना समय स्थित करने चाहें उतना समय वहाँ स्थित कर सको। फाइनल पेपर है बहुत ही सहज। और पहले से ही बता देते हैं कि यह पेपर आना है। लेकिन नम्बर बहुत थोड़े समय में मिलना है। स्टेज भी पावरफुल हो।

देह, देह के सम्बन्ध, देह संस्कार, व्यक्ति या वैभव, वायब्रेशन, वायुमण्डल सब होते हुए भी आकर्षित न करे। इसी को ही कहते हैं नष्टोमोहा समर्थ स्वरूप। तो ऐसी प्रैक्टिस है? लोग चिल्लाते रहें और आप अचल रहो। प्रकृति भी, माया भी सब लास्ट दाँव लगाने लिए अपने तरफ कितना भी खींचे लेकिन आप न्यारे और बाप के प्यारे बनने की स्थिति में लवलीन रहो, इसको कहा जाता देखते हुए न देखो, सुनते हुए न सुनो… ऐसा अभ्यास हो। इसी को ही स्वीट साइलेन्स स्वरूप की स्थिति कहा जाता है। फिर भी बापदादा समय दे रहा है। अगर कोई भी कमी है तो अब भी भर सकते हो क्योंकि बहुतकाल का हिसाब सुनाया। तो अभी थोड़ा चांस है, इसलिए इस प्रैक्टिस की तरफ फुल अटेन्शन रखो। पास विद आनर बनना या पास होना यह आधार इसी अभ्यास पर है। ऐसा अभ्यास है? समय की घण्टी बजे तो तैयार होंगे या अभी सोचते हो तैयार होना है? इसी अभ्यास के कारण अष्ट रत्नों की माला विशेष छोटी बनी है। बहुत थोड़े टाइम की है। जैसे आप लोग कहते हो ना सेकण्ड में मुक्ति वा जीवनमुक्ति का वर्सा लेना सभी का अधिकार है। तो समाप्ति के समय भी नम्बर मिलना थोड़े समय की बात है। लेकिन जरा भी हलचल न हो। बस बिन्दी कहा और बिन्दी में टिक जायें। बिन्दी हिले नहीं। ऐसे नहीं कि उस समय अभ्यास करना शुरू करो – मैं आत्मा हूँ…मैं आत्मा हूँ.. यह नहीं चलेगा क्योंकि सुनाया वार भी चारों ओर का होगा। लास्ट ट्रायल सब करेंगे। प्रकृति में भी जितनी शक्ति होगी, माया में भी जितनी शक्ति होगी, ट्रायल करेगी। उनकी भी लास्ट ट्रायल और आपकी लास्ट कर्मातीत, कर्मबन्धन मुक्त स्थिति होगी। दोनों तरफ की बहुत पावरफुल सीन होगी। वह भी फुलफोर्स, यह भी फुल-फोर्स। लेकिन सेकण्ड की विजय, विजय के नगाड़े बजायेगी। समझा लास्ट पेपर क्या है। सब शुभ संकल्प तो यही रखते भी हैं और रखना भी है कि नम्बरवन आना ही है। तो जब चारों ओर की बातों में विन होंगे तभी वन आयेंगे। अगर एक बात में जरा भी व्यर्थ संकल्प, व्यर्थ समय लग गया तो नम्बर पीछे हो जायेगा इसलिए सब चेक करो। चारों ही तरफ चेक करो। डबल विदेशी सबमें तीव्र जाने चाहते हैं ना इसलिए तीव्र पुरूषार्थ वा फुल अटेन्शन इस अभ्यास में अभी से देते रहो। समझा! क्वेश्चन को भी जानते हो और टाइम को भी जानते हो। फिर तो सब पास होने चाहिए। अगर पहले से क्वेश्चन का पता होता है तो तैयारी कर लेते हैं। फिर पास हो जाते हैं। आप सभी तो पास होने वाले हो ना! अच्छा।

यह सीजन बापदादा ने हरेक से मिलने का खुला भण्डारा खोला है। आगे क्या होना है, वह फिर बतायेंगे। अभी खुले भण्डार से जो भी लेने आये हैं वह तो ले ही लेंगे। ड्रामा का दृश्य सदा बदलता ही है लेकिन इस सीजन में चाहे भारतवासियों को, चाहे डबल विदेशियों को सभी को विशेष वरदान तो मिला ही है। बापदादा ने जो वायदा किया है वह तो निभायेंगे। इस सीजन का फल खाओ। फल है मिलन, वरदान। सभी सीजन का फल खाने आये हो ना। बापदादा को भी बच्चों को देख खुशी होती है। फिर भी साकारी सृष्टि में तो सब देखना होता है। अभी तो मौज मना लो। फिर सीजन की लास्ट में सुनायेंगे।

सेवा के स्थान भले अलग-अलग हैं लेकिन सेवा का लक्ष्य तो एक ही है। उमंग-उल्हास एक ही है इसलिए बापदादा सभी स्थानों को विशेष महत्व देते हैं। ऐसे नहीं एक स्थान महत्व वाला है, दूसरा कम है। नहीं। जिस भी धरनी पर बच्चे पहुँचे हैं उससे कोई न कोई विशेष रिजल्ट अवश्य निकलनी है। फिर चाहे कोई की जल्दी दिखाई देती, कोई की समय पर दिखाई देगी। लेकिन विशेषता सब तरफ की है। कितने अच्छे-अच्छे रत्न निकले हैं। ऐसे नहीं समझना कि हम तो साधारण हैं। सब विशेष हो। अगर कोई विशेष न होता तो बाप के पास नहीं पहुँचता। विशेषता है लेकिन कोई विशेषता को सेवा में लगाते हैं कोई सेवा में लगाने के लिए अभी तैयार हो रहे हैं, बाकी हैं सब विशेष आत्मायें। सब महारथी, महावीर हो। एक-एक की महिमा शुरू करें तो लम्बी-चौड़ी माला बन जायेगी। शक्तियों को देखो तो हर एक शक्ति महान आत्मा, विश्व कल्याणकारी आत्मा दिखाई देगी। ऐसे हो ना या सिर्फ अपने-अपने स्थान के कल्याणकारी हो? अच्छा।

06-09-20 प्रात:मुरली ओम् शान्ति ”अव्यक्त-बापदादा” रिवाइज 19-03-86 मधुबन

अमृतवेला – श्रेष्ठ प्राप्तियों की वेला

आज रूहानी बागवान अपने रूहानी रोज़ फ्लावर्स का बगीचा देख रहे हैं। ऐसा रूहानी गुलाब का बगीचा अब इस संगमयुग पर ही बापदादा द्वारा ही बनता है। बापदादा हर एक रूहानी गुलाब के फूल की रूहानियत की खुशबू और रूहानियत के खिले हुए पुष्पों की रौनक देख रहे हैं। खुशबूदार सभी हैं लेकिन किसकी खुशबू सदाकाल रहने वाली है और किसकी खुशबू थोड़े समय के लिए रहती है। कोई गुलाब सदा खिला हुआ है और कोई कब खिला हुआ कब थोड़ा-सा धूप वा मौसम के हिसाब से मुरझा भी जाते हैं। लेकिन हैं फिर भी रूहानी बागवान के बगीचे के रूहानी गुलाब। कोई-कोई रूहानी गुलाब में ज्ञान की खुशबू विशेष है। कोई में याद की खुशबू विशेष है। तो कोई में धारणा की खुशबू, कोई में सेवा की खुशबू विशेष है। कोई-कोई ऐसे भी हैं जो सर्व खुशबू से सम्पन्न हैं। तो बगीचे में सबसे पहले नज़र किसके ऊपर जायेगी? जिसकी दूर से ही खुशबू आकर्षित करेगी। उस तरफ ही सबकी नज़र पहले जाती है। तो रूहानी बागवान सदैव सभी रूहानी गुलाब के पुष्पों को देखते हैं। लेकिन नम्बरवार। प्यार भी सभी से है क्योंकि हर एक गुलाब पुष्प के अन्दर बागवान प्रति अति प्यार है। मालिक से पुष्पों का प्यार है। और मालिक का पुष्पों से प्यार है। फिर भी शोकेस में सदा रखने वाले रूहानी गुलाब वही होते जो सदा सर्व खुशबू से सम्पन्न हैं और सदा खिले हुए हैं। मुरझायें हुए कभी नहीं। रोज़ अमृतवेले बापदादा स्नेह और शक्ति की विशेष पालना से सभी रूहानी गुलाब के पुष्पों से मिलन मनाते हैं।

अमृतवेला विशेष प्रभू पालना की वेला है। अमृतवेले विशेष परमात्म मिलन की वेला है। रूहानी रूह-रूहान करने की वेला है। अमृतवेले भोले भण्डारी के वरदानों के खजाने से सहज वरदान प्राप्त होने की वेला है। जो गायन है मन इच्छित फल प्राप्त करना, यह इस समय अमृतवेले के समय का गायन है। बिना मेहनत के खुले खजाने प्राप्त करने की वेला है। ऐसे सुहावने समय को अनुभव से जानते हो ना। अनुभवी ही जानें इस श्रेष्ठ सुख को, श्रेष्ठ प्राप्तियों को। तो बापदादा सभी रूहानी गुलाब को देख-देख हर्षित हो रहे हैं। बापदादा भी कहते हैं वाह मेरे रूहानी गुलाब। आप वाह-वाह के गीत गाते तो बापदादा भी यही गीत गाते। समझा!

मुरलियाँ तो बहुत सुनी हैं। सुन-सुनकर सम्पन्न बन गये हो। अभी महादानी बन बांटने के प्लैन बना रहे हो। यह उमंग बहुत अच्छा है। आज यू.के. अर्थात् ओ.के. रहने वालों का टर्न है। डबल विदेशियों का एक शब्द सुन करके बापदादा सदा मुस्कराते रहते हैं। कौन-सा? थैंक यू। थैंक यू करते हुए भी बाप को भी याद करते रहते हैं क्योंकि सबसे पहले शुक्रिया दिल से बाप का ही मानते हैं। तो जब किसी को भी थैंक यू करते तो पहले बाप याद आयेगा ना! ब्राह्मण जीवन में पहला शुक्रिया स्वत: ही बाप के प्रति निकलता है। उठते-बैठते अनेक बार थैंक यू कहते हो। यह भी एक विधि है बाप को याद करने की। यू.के.वाले सर्व भिन्न-भिन्न हद की शक्तियों वालों को मिलाने के निमित्त बने हुए हो ना। अनेक प्रकार के नॉलेज की शक्तियाँ हैं। भिन्न-भिन्न शक्ति वाले, भिन्न-भिन्न वर्ग वाले, भिन्न-भिन्न धर्म वाले, भाषा वाले सभी को मिलाकर एक ही ब्राह्मण वर्ग में लाना, ब्राह्मण धर्म में, ब्राह्मण भाषा में आना। ब्राह्मणों की भाषा भी अपनी है। जो नये समझ भी नहीं सकते कि यह क्या बोलते हैं। तो ब्राह्मणों की भाषा, ब्राह्मणों की डिक्शनरी ही अपनी है। तो यू.के. वाले सभी को एक बनाने में बिजी रहते हो ना। संख्या भी अच्छी है और स्नेह भी अच्छा है हर एक स्थान की अपनी-अपनी विशेषता तो है ही है लेकिन आज यू.के.का सुना रहे हैं। यज्ञ स्नेही, यज्ञ सहयोगी यह विशेषता अच्छी दिखाई देती है। हर कदम पर पहले यज्ञ अर्थात् मधुबन का हिस्सा निकालने में अच्छे नम्बर में जा रहे हैं। डायरेक्ट मधुबन की याद एक स्पेशल लिफ्ट बन जाती है। हर कार्य में, हर कदम में मधुबन अर्थात् बाप की याद है या बाप की पढ़ाई है या बाप का ब्रह्मा भोजन है या बाप से मिलन है। मधुबन स्वत: ही बाप की याद दिलाने वाला है। कहाँ भी रहते मधुबन की याद आना अर्थात् विशेष स्नेह, लिफ्ट बन जाता है। चढ़ने की मेहनत से छूट जाते। सेकण्ड में स्विच ऑन किया और पहुँचे।

बापदादा को और कोई हीरे मोती तो चाहिए नहीं। बाप को स्नेह की छोटी वस्तु ही हीरे रत्न हैं इसलिए सुदामा के कच्चे चावल गाये हुए हैं। इसका भाव अर्थ यही है कि स्नेह की छोटी-सी सुई में भी मधुबन याद आता है। तो वह भी बहुत बड़ा अमूल्य रत्न है क्योंकि स्नेह का दाम है। वैल्यु स्नेह की है। चीज़ की नहीं। अगर कोई वैसे ही भल कितना भी दे देवे लेकिन स्नेह नहीं तो उसका जमा नहीं होता और स्नेह से थोड़ा भी जमा करे तो उनका पदम जमा हो जाता है। तो बाप को स्नेह पसन्द है। तो यू.के. वालों की विशेषता यज्ञ स्नेही, यज्ञ सहयोगी आदि से रहे हैं। यही सहज योग भी है। सहयोग, सहज योग है। सहयोग का संकल्प आने से भी याद तो बाप की रहेगी ना। तो सहयोगी, सहज योगी स्वत: ही बन जाते हैं। योग बाप से होता, मधुबन अर्थात् बापदादा से। तो सहयोगी बनने वाले भी सहजयोग की सबजेक्ट में अच्छे नम्बर ले लेते हैं। दिल का सहयोग बाप को प्रिय है, इसलिए यहाँ यादगार भी दिलवाला मन्दिर बनाया है। तो दिलवाला बाप को दिल का स्नेह, दिल का सहयोग ही प्रिय है। छोटी दिल वाले छोटा सौदा कर खुश हो जाते और बड़ी दिल वाले बेहद का सौदा करते हैं। फाउन्डेशन बड़ी दिल है तो विस्तार भी बड़ा हो रहा है। जैसे कई जगह पर वृक्ष देखे होंगे तो वृक्ष की शाखायें भी तना बन जाती हैं। तो यू.के.के फाउन्डेशन से तना निकला, शाखायें निकलीं। अब वह शाखायें भी तना बन गई। उस तना से भी शाखायें निकल रही हैं। जैसे आस्ट्रेलिया निकला, अमेरिका, यूरोप, अफ्रीका निकले। सब तना बन गये। और हर एक तना की शाखायें भी अच्छी तरह से वृद्धि को पा रही हैं क्योंकि फाउन्डेशन स्नेह और सहयोग के पानी से मजबूत है, इसलिए विस्तार भी अच्छा है और फल भी अच्छे हैं। अच्छा –

वरदान:- देह भान का त्याग कर पोधी बनने वाले निर्मानचित्त भव
जो बच्चे देह भान का त्याग करते हैं उन्हें कभी भी क्रोध नहीं आ सकता क्योंकि क्रोध आने के दो कारण होते हैं। एक – जब कोई झूठी बात कहता है और दूसरा जब कोई ग्लानी करता है। यही दो बातें क्रोध को जन्म देती हैं। ऐसी परिस्थिति में निर्मानचित्त के वरदान द्वारा अपकारी पर भी उपकार करो, गाली देने वाले को गले लगाओ, निंदा करने वाले को सच्चा मित्र मानो – तब कहेंगे कमाल। जब ऐसा परिवर्तन दिखाओ तब विश्व के आगे प्रसिद्ध होंगे
स्लोगन:- मौज़ का अनुभव करने के लिए माया की अधीनता को छोड़ स्वतंत्र बनो।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 6 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 September 2019

To Read Murli 5 September 2019:- Click Here
06-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें बाप समान खुदाई खिदमतगार बनना है, संगम पर बाप आते हैं तुम बच्चों की खिदमत (सेवा) करने”
प्रश्नः- यह पुरूषोत्तम संगमयुग ही सबसे सुहावना और कल्याणकारी है – कैसे?
उत्तर:- इसी समय तुम बच्चे स्त्री और पुरूष दोनों ही उत्तम बनते हो। यह संगमयुग है ही कलियुग अन्त और सतयुग आदि के बीच का समय। इस समय ही बाप तुम बच्चों के लिए ईश्वरीय युनिवर्सिटी खोलते हैं, जहाँ तुम मनुष्य से देवता बनते हो। ऐसी युनिवर्सिटी सारे कल्प में कभी नहीं होती। इसी समय सबकी सद्गति होती है।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को बैठ समझाते हैं। यहाँ बैठे-बैठे एक तो तुम बाप को याद करते हो क्योंकि वह पतित-पावन है, उनको याद करने से ही पावन सतोप्रधान बनने की तुम्हारी एम है। ऐसे नहीं, सतो तक एम है। सतोप्रधान बनना है इसलिए बाप को भी जरूर याद करना है फिर स्वीट होम को भी याद करना है क्योंकि वहाँ जाना है फिर माल-मिलकियत भी चाहिए इसलिए अपने स्वर्ग धाम को भी याद करना है क्योंकि यह प्राप्ति होती है। बच्चे जानते हैं हम बाप के बच्चे बने हैं, बरोबर बाप से शिक्षा लेकर हम स्वर्ग में जायेंगे – नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। बाकी जो भी जीव की आत्मायें हैं वह शान्तिधाम में चली जायेंगी। घर तो जरूर जाना है। बच्चों को यह भी मालूम हुआ, अभी है रावण राज्य। इसकी भेंट में सतयुग को फिर नाम दिया जाता है राम राज्य। दो कला कम हो जाती हैं। उनको सूर्यवंशी, उनको चन्द्रवंशी कहा जाता है। जैसे क्रिश्चियन की डिनायस्टी एक ही चलती है, वैसे यह भी है एक ही डिनायस्टी। परन्तु उसमें सूर्यवंशी और चन्द्रवंशी हैं। यह बातें कोई भी शास्त्रों में नहीं हैं। बाप बैठ समझाते हैं, जिसको ही ज्ञान अथवा नॉलेज कहा जाता है। स्वर्ग स्थापन हो गया फिर नॉलेज की दरकार नहीं। यह नॉलेज बच्चों को पुरूषोत्तम संगमयुग पर ही सिखलाई जाती है। तुम्हारे सेन्टर्स पर वा म्युज़ियम में बहुत बड़े-बड़े अक्षरों में जरूर लिखा हुआ हो कि बहनों और भाइयों यह पुरूषोत्तम संगमयुग है, जो एक ही बार आता है। पुरूषोत्तम संगमयुग का अर्थ भी नहीं समझते हैं तो यह भी लिखना है – कलियुग अन्त और सतयुग आदि का संगम। तो संगमयुग सबसे सुहावना, कल्याणकारी हो जाता है। बाप भी कहते हैं मैं पुरूषोत्तम संगमयुग पर ही आता हूँ। तो संगमयुग का अर्थ भी समझाया है। वेश्यालय का अन्त, शिवालय का आदि – इसको कहा जाता है पुरूषोत्तम संगमयुग। यहाँ सब हैं विकारी, वहाँ सब हैं निर्विकारी। तो जरूर उत्तम तो निर्विकारी को कहेंगे ना। पुरूष और स्त्री दोनों उत्तम बनते हैं इसलिए नाम ही है पुरूषोत्तम। इन बातों का बाप और तुम बच्चों के सिवाए किसको पता नहीं कि यह संगमयुग है। किसके ख्याल में नहीं आता कि पुरूषोत्तम संगमयुग कब होता है। अभी बाप आये हुए हैं, वह है मनुष्य सृष्टि का बीजरूप। उनकी ही इतनी महिमा है, वह ज्ञान का सागर, आनंद का सागर है, पतित-पावन है। ज्ञान से सद्गति करते हैं। ऐसे तुम कभी नहीं कहेंगे कि भक्ति से सद्गति। ज्ञान से सद्गति होती है और सद्गति है ही सतयुग में। तो जरूर कलियुग का अन्त और सतयुग आदि के संगम पर आयेंगे। कितना क्लीयर कर बाप समझाते हैं। नये भी आते हैं, हूबहू जैसे कल्प-कल्प आये हैं, आते रहते हैं। राजधानी ऐसे ही स्थापन होनी है। तुम बच्चों को मालूम है – हम खुदाई खिदमतगार सच्चे-सच्चे ठहरे। एक को थोड़ेही पढ़ायेंगे। एक पढ़ते हैं फिर इन द्वारा तुम पढ़कर औरों को पढ़ाते हो इसलिए यहाँ यह बड़ी युनिवर्सिटी खोलनी पड़ती है। सारी दुनिया में और कोई युनिवर्सिटी है ही नहीं। न कोई दुनिया में जानता है कि ईश्वरीय युनिवर्सिटी भी होती है। अभी तुम बच्चे जानते हो – गीता का भगवान शिव आकर यह युनिवर्सिटी खोलते हैं। नई दुनिया का मालिक देवी-देवता बनाते हैं। इस समय आत्मा जो तमोप्रधान बन गई है, फिर उसको ही सतोप्रधान बनना है। इस समय सब तमोप्रधान हैं ना। भल कई कुमार भी पवित्र रहते हैं, कुमारियाँ भी पवित्र रहती हैं, सन्यासी भी पवित्र रहते हैं परन्तु आजकल वह पवित्रता नहीं है। पहले-पहले जब आत्मायें आती हैं, वह पवित्र रहती हैं। फिर अपवित्र बन जाती हैं क्योंकि तुम जानते हो सतोप्रधान, सतो, रजो, तमो से सबको पास होना होता है। अन्त में सब तमोप्रधान बन जाते हैं। अभी बाप सम्मुख बैठ समझाते हैं – यह झाड़ तमोप्रधान जड़जड़ीभूत अवस्था को पाया हुआ है, पुराना हो गया है तो जरूर इनका विनाश होना चाहिए। यह है वैराइटी धर्मों का झाड़, इसलिए कहते हैं विराट लीला। कितना बड़ा बेहद का झाड़ है। वह तो जड़ झाड़ होते हैं, जो बीज डालो वह झाड़ निकलता है। यह फिर है वैराइटी धर्मों का वैराइटी चित्र। हैं सब मनुष्य, परन्तु उनमें वैराइटी बहुत है, इसलिए विराट लीला कहा जाता है। सब धर्म कैसे नम्बरवार आते हैं, यह भी तुम जानते हो। सबको जाना है फिर आना है। यह ड्रामा बना हुआ है। है भी कुदरती ड्रामा। कुदरत यह है जो इतनी छोटी सी आत्मा अथवा परम आत्मा में कितना पार्ट भरा हुआ है। परम-आत्मा को मिलाकर परमात्मा कहा जाता है। तुम उनको बाबा कहते हो क्योंकि सभी आत्माओं का वह सुप्रीम बाप है ना। बच्चे जानते हैं आत्मा ही सारा पार्ट बजाती है। मनुष्य यह नहीं जानते। वह तो कह देते आत्मा निर्लेप है। वास्तव में यह अक्षर रांग है। यह भी बड़े-बड़े अक्षरों में लिख देना चाहिए – आत्मा निर्लेप नहीं है। आत्मा ही जैसे-जैसे अच्छे वा बुरे कर्म करती है तो ऐसा वह फल पाती है। बुरे संस्कारों से पतित बन पड़ती है, तब तो देवताओं के आगे जाकर उनकी महिमा गाते हैं। अभी तुमको 84 जन्मों का पता पड़ गया है, और कोई भी मनुष्य नहीं जानता। तुम उनको 84 जन्म सिद्ध कर बतलाते हो तो कहते हैं – क्या शास्त्र सब झूठे हैं? क्योंकि सुना है मनुष्य 84 लाख योनियां लेते हैं। अभी बाप बैठ समझाते हैं वास्तव में सर्व शास्त्रमई शिरोमणी है ही गीता। बाप अभी हमको राजयोग सिखला रहे हैं जो 5 हज़ार वर्ष पहले सिखलाया था।

तुम जानते हो हम पवित्र थे, पवित्र गृहस्थ धर्म था। अभी इनको धर्म नहीं कहेंगे। अधर्मी बन पड़े हैं अर्थात् विकारी बन गये हैं। इस खेल को तुम बच्चे समझ गये हो। यह बेहद का ड्रामा है जो हर 5 हज़ार वर्ष बाद रिपीट होता रहता है। लाखों वर्ष की बात तो कोई समझ भी न सके। यह तो जैसे कल की बात है। तुम शिवालय में थे, आज वेश्यालय में हो फिर कल शिवालय में होंगे। सतयुग को कहा जाता है शिवालय, त्रेता को सेमी कहा जाता है। इतने वर्ष वहाँ रहेंगे। पुनर्जन्म में तो आना ही है। इनको कहा जाता है रावण राज्य। तुम आधाकल्प पतित बनें, अब बाप कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान पवित्र बनो। कुमार और कुमारियां तो हैं ही पवित्र। उन्हों को फिर समझाया जाता है – ऐसे गृहस्थ में फिर जाना नहीं है जो फिर पवित्र होने का पुरूषार्थ करना पड़े। भगवानुवाच है कि पावन बनो, तो बेहद के बाप का मानना पड़े ना। तुम गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान रह सकते हो। फिर बच्चों को पतित बनने की आदत क्यों डालते हो। जबकि बाप 21 जन्मों के लिए पतित होने से बचाते हैं। इसमें लोक लाज कुल की मर्यादा भी छोड़नी पड़े। यह है बेहद की बात। बैचलर्स (कुमार) तो सब धर्मों में बहुत रहते हैं परन्तु सेफ्टी से रहना ज़रा मुश्किल होता है, फिर भी रावण राज्य में रहते हैं ना। विलायत में भी ऐसे बहुत मनुष्य शादी नहीं करते हैं फिर पिछाड़ी में कर लेते हैं कम्पैनियनशिप के लिए। क्रिमिनल आई से नहीं करते हैं। ऐसे भी दुनिया में बहुत होते हैं। पूरी सम्भाल करते हैं, फिर जब मरते हैं तो कुछ उनको देकर जाते हैं। कुछ धर्माऊ लगा देते हैं। ट्रस्ट बनाकर जाते हैं। विलायत में भी बड़े-बड़े ट्रस्ट होते हैं जो फिर यहाँ भी मदद करते हैं। यहाँ ऐसा ट्रस्ट नहीं होगा जो विलायत को भी मदद करे। यहाँ तो गरीब लोग हैं, क्या मदद करेंगे! वहाँ तो उन्हों के पास पैसे बहुत हैं। भारत तो गरीब है ना। भारतवासियों की क्या हालत है! भारत कितना सिरताज था, कल की बात है। खुद भी कहते हैं 3 हज़ार वर्ष पहले पैराडाइज़ था। बाप ही बनाते हैं। तुम जानते हो बाप कैसे ऊपर से नीचे आते हैं – पतितों को पावन बनाने। वह है ही ज्ञान का सागर, पतित-पावन, सर्व का सद्गति दाता अर्थात् सबको पावन बनाने वाला। तुम बच्चे जानते हो मेरी महिमा तो सब गाते हैं। मैं यहाँ पतित दुनिया में ही आता हूँ तुमको पावन बनाने। तुम पावन बन जाते हो तो फिर पहले-पहले पावन दुनिया में आते हो। बहुत सुख उठाते हो फिर रावण राज्य में गिरते हो। भल गाते तो हैं परमपिता परमात्मा ज्ञान का सागर, शान्ति का सागर, पतित-पावन है। परन्तु पावन बनाने के लिए कब आयेंगे – यह कोई भी जानते ही नहीं हैं। बाप कहते हैं तुम मेरी महिमा करते हो ना। अब मैं आया हूँ तुमको अपना परिचय दे रहा हूँ। मैं हर 5 हज़ार वर्ष के बाद इस पुरूषोत्तम संगमयुग पर आता हूँ, कैसे आता हूँ वह भी समझाता हूँ। चित्र भी हैं। ब्रह्मा कोई सूक्ष्मवतन में नहीं होता है। ब्रह्मा यहाँ है और ब्राह्मण भी यहाँ हैं, जिसको ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर कहा जाता है, जिसका फिर सिजरा बनता है। मनुष्य सृष्टि का सिजरा तो प्रजापिता ब्रह्मा से ही चलेगा ना। प्रजापिता है तो जरूर उनकी प्रजा होगी। कुख वंशावली तो हो न सके, जरूर एडप्टेड होंगे। ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर है तो जरूर एडाप्ट किया होगा। तुम सब एडाप्टेड बच्चे हो। अभी तुम ब्राह्मण बने हो फिर तुमको देवता बनना है। शूद्र से ब्राह्मण फिर ब्राह्मण से देवता, यह बाजोली का खेल है। विराट रूप का भी चित्र है ना। वहाँ से सबको यहाँ आना है जरूर। जब सब आ जाते हैं फिर क्रियेटर भी आते हैं। वह क्रियेटर डायरेक्टर है, एक्ट भी करते हैं। बाप कहते हैं – हे आत्मायें तुम मुझे जानते हो। तुम आत्मायें मेरे सब बच्चे हो ना। तुमने पहले सतयुग में शरीरधारी बन कितना अच्छा सुख का पार्ट बजाया फिर 84 जन्म बाद तुम कितना दु:ख में आ गये हो। ड्रामा के क्रियेटर, डायरेक्टर, प्रोड्युशर होते हैं ना। यह है बेहद का ड्रामा। बेहद ड्रामा को कोई भी जानते नहीं हैं। भक्ति मार्ग में ऐसी-ऐसी बातें बताते हैं जो मनुष्यों की बुद्धि में वही बैठ गयी हैं।

अब बाप कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, यह सब भक्ति मार्ग के शास्त्र हैं। भक्ति मार्ग की ढेर सामग्री है, जैसे बीज की सामग्री झाड़ है, इतने छोटे बीज से झाड़ कितना अथाह फैल जाता है। भक्ति का भी इतना विस्तार है। ज्ञान तो बीज है, उसमें कोई भी सामग्री की दरकार नहीं रहती है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो और कोई व्रत नेम नहीं है। यह सब बन्द हो जाता है। तुमको सद्गति मिल जायेगी फिर कोई बात की दरकार नहीं। तुमने ही बहुत भक्ति की है। उसका फल तुमको देने के लिए आया हूँ। देवतायें शिवालय में थे ना, तब तो मन्दिर में जाकर उन्हों की महिमा गाते हैं। अब बाप समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, मैंने 5 हज़ार वर्ष पहले भी तुमको समझाया था कि अपने को आत्मा समझो। देह के सब सम्बन्ध छोड़ मुझ एक बाप को याद करो तो इस योग अग्नि से तुम्हारे पाप भस्म हो जायेंगे। बाप जो कुछ अभी समझाते हैं, कल्प-कल्प समझाते आये हैं। गीता में भी कोई-कोई अक्षर अच्छे हैं। मनमनाभव अर्थात् मुझे याद करो। शिवबाबा कहते हैं मैं यहाँ आया हूँ। किसके तन में आता हूँ, वह भी बताता हूँ। ब्रह्मा द्वारा सब वेदों-शास्त्रों का सार तुमको सुनाता हूँ। चित्र भी दिखाते हैं परन्तु अर्थ नहीं समझते। अभी तुम समझते हो – शिवबाबा कैसे ब्रह्मा तन द्वारा सब शास्त्रों आदि का सार सुनाते हैं। 84 जन्मों के ड्रामा का राज़ भी तुमको समझाते हैं। इनके ही बहुत जन्मों के अन्त में आता हूँ। यही फिर पहले नम्बर का प्रिन्स बनते हैं फिर 84 जन्मों में आते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस रावण राज्य में रहते पतित लोकलाज़ कुल की मर्यादा को छोड़ बेहद बाप की बात माननी है, गृहस्थ व्यवहार में कमल फूल समान रहना है।

2) इस वैराइटी विराट लीला को अच्छी तरह समझना है, इसमें पार्ट बजाने वाली आत्मा निर्लेप नहीं, अच्छे-बुरे कर्म करती और उसका फल पाती है, इस राज़ को समझकर श्रेष्ठ कर्म करने हैं।

वरदान:- रूहानी अथॉरिटी के साथ निरहंकारी बन सत्य ज्ञान का प्रत्यक्ष स्वरूप दिखाने वाले सच्चे सेवाधारी भव
जैसे वृक्ष में जब सम्पूर्ण फल की अथॉरिटी आ जाती है तो वृक्ष झुक जाता है अर्थात् निर्माण बनने की सेवा करता है। ऐसे रूहानी अथॉरिटी वाले बच्चे जितनी बड़ी अथॉरिटी उतने निर्माण और सर्व के स्नेही होंगे। अल्पकाल की अथॉरिटी वाले अंहकारी होते हैं लेकिन सत्यता की अथॉरिटी वाले अथॉरिटी के साथ निरंहकारी होते हैं – यही सत्य ज्ञान का प्रत्यक्ष स्वरूप है। सच्चे सेवाधारी की वृत्ति में जितनी अथॉरिटी होगी उसकी वाणी में उतना ही स्नेह और नम्रता होगी।
स्लोगन:- बिना त्याग के भाग्य नहीं मिलता।

TODAY MURLI 6 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 6 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 5 September 2019:- Click Here

06/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to become God’s helpers, like the father. The Father comes at the confluence age to serve you children.
Question: How is this most auspicious confluence age the most beautiful and benevolent age?
Answer: It is only at this time that you children, both men and women, become most elevated. This confluence age is the middle period between the end of the iron age and the beginning of the golden age. It is only at this time that the Father opens the Godly University for you children where you change from human beings into deities. Such a university doesn’t exist at any other time throughout the whole cycle. It is only at this time that everyone receives salvation.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. Whilst sitting here, you first remember the Father because He is the Purifier. Your aim is to become pure and satopradhan by remembering Him. Your aim is not just to reach the sato stage. You have to become satopradhan and this is why you also definitely have to remember the Father. Then, you also remember your sweet home because you have to go there. Then, you also need prosperity there, and this is why you also have to remember the land of heaven because you have that attainment. You children know that you have become the children of the Father. You take teachings from the Father and will then go to heaven, numberwise, according to your efforts. All the rest of the living souls will go to the land of peace. Everyone definitely has to return home. You children also know that this is now the kingdom of Ravan. In comparison to this, the golden age is given the name, the kingdom of Rama. There is then a decline of two degrees. One is called the sun dynasty and the other is called the moon dynasty. Just as there is just one dynasty of the Christians, so this too is just one dynasty. However, there are the sun dynasty and the moon dynasty in that. These things are not mentioned in any of the scriptures. The Father sits here and explains to you and this is called knowledge. Once heaven has been established, there is no need for knowledge. You children are taught this knowledge at only the most auspicious confluence age. It should definitely be written at your centres and at the museums in big writing: Brothers and sisters, this is the most auspicious confluence age which only comes once. They don’t understand the meaning of, “The most auspicious confluence age,” and so you also have to write: This is the confluence age when the end of the iron age and the beginning of the golden age meets. So, the confluence age is the most beautiful and benevolent age. The Father says: I only come at the most auspicious confluence age. So, the meaning of the confluence age is also explained to you. The end of the brothel and the beginning of the Temple of Shiva (Shivalaya) is called the most auspicious confluence age. Here, all are vicious, whereas there, all are viceless. So, surely, those who are viceless are said to be the highest. Both men and women become the highest. Therefore, their name is, the most elevated human beings (purushottam). No one, except you children, and the Father knows that this is the confluence age. It doesn’t enter anyone’s intellect when it is the most auspicious confluence age. The Father has now come. He is the Seed of the human world tree. He is praised so much. He is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Bliss and the Purifier. He grants everyone salvation with knowledge. You would never say that salvation is received by performing devotion. Salvation is only in the golden age and that takes place through knowledge. So, He would surely come at the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. The Father explains and makes everything very clear. New ones come, just as they have also come every cycle and will continue to come. The kingdom has to be established in this way. You children know that you are the true helpers of God. He would not teach just one person. One studies and you then study with that one and then you teach others and this is why this big university has to be opened here. Throughout the whole world, neither is there another suchuniversity nor does anyone in the world know that there can be such a thing as a Godly university. You children now know that the God of the Gita, Shiva, comes and opens this university. He makes you into the masters of the new world, deities. The souls that have become tamopradhan have to become satopradhan again at this time. At this time, all are tamopradhan. Although some kumars, kumaris and sannyasis do remain pure, nowadays, there isn’t that purity. Souls who come down remain pure at first. They then become impure. You know that everyone has to pass through the stages of satopradhan, sato, rajo and tamo. At the end, everyone becomes tamopradhan. The Father now sits here and personally explains to you: This tree has reached its tamopradhan state of total decay. It has become old, and so it definitely has to be destroyed. This is the tree of the variety of religions and this is why it is called the unlimited variety play. The tree is so big and unlimited. Those are non-living trees that emerge when you sow seeds. This is the variety picture of the variety of religions. All are human beings, but there is a great deal of variety amongst them. This is why they speak of the unlimited variety play. Only you know how all the religions come numberwise. Everyone has to go back and then come down. This drama is predestined. It is the wonderful drama. The wonder is that such a tiny soul, that is, the Supreme Soul, has such a big part recorded in Him. The Supreme plus Soul is called God (Param plus Atma). You call Him Baba because He is the Supreme Father of all souls. You children know that it is the souls that plays their whole parts. Human beings don’t know this. They say: The soul is immune to the effect of action. In fact, those words are wrong. You should write in big writing: Souls are not immune to the effect of action. Each soul receives the fruit of whatever good or bad actions he has performed. Souls become impure with impure sanskars and this is why they go in front of the deity idols and sing their praise. You now know about your 84 births. No other human beings know this. When you tell and give them the proof of their 84 births, they ask: Are all the scriptures false? They have heard that human beings go into 8.4 million species. The Father now sits here and explains to you that, in fact, it is only the Gita which is the jewel of all the scriptures. The Father is now teaching us the Raj Yoga that He taught us 5000 years ago. You know that we were pure and that we belonged to the pure household religion. That would not be called a religion now. People have become irreligious, that is, they have become vicious. You children now understand this play. This is the unlimited drama which continues to repeat every 5000 years. No one could understand anything of hundreds of thousands of years. This is a matter of just yesterday when you were in the Temple of Shiva (Shivalaya) and, today, when you are in the brothel. Tomorrow, you will be in the Temple of Shiva again. The golden age is called Shivalaya or heaven and the silver age is said to be semi. You will stay there for so many years. You have to take rebirth. This is called the kingdom of Ravan. You have become impure for half the cycle. The Father now says: Whilst living at home, become as pure as a lotus. Kumars and kumaris are pure anyway. It is explained to them: You must not get involved in a household where you would then have to make effort to become pure again. God speaks: Become pure! You have to listen to the unlimited Father. You can live as purely as a lotus whilst living at home with your family. Since the Father is saving you from becoming impure for 21 births why do you instil in your children the habit of becoming impure? You also have to renounce the opinion of your family and society. This is an unlimited matter. There are many bachelors in all religions, but it is a little difficult to live with safety because they are still living in the kingdom of Ravan. Abroad, too, many people don’t get married and they then get married in their old age for companionship. They do not get married with criminal eyes. There are many such people in the world. He is looked after very well and, when he dies, he leaves something to that person (companion) and gives some of it to charity. They set up a trust before they go. They also have big trusts abroad which then help here. There are no trusts here (in India) that would help countries abroad. Here, people are poor and so how could they help? There, they have a lot of money. Bharat is poor. Look at the condition of the people of Bharat! Bharat was crowned and that was a matter of only yesterday. They themselves say that 3000 years ago there was Paradise. Only the Father creates that. You know how the Father comes down here from up above in order to purify the impure. He is the Ocean of Knowledge, the Purifier, and the Bestower of Salvation for All, that is, He is the One who purifies everyone. You children know that everyone sings My praise. I come here, into this impure world, to purify you. You become pure and so you first of all go to the pure world. You experience a lot of happiness and you then fall in the kingdom of Ravan. Although people sing that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Peace and the Purifier, none of them knows when He comes to make you pure. The Father says: You praise Me. I have now come and am giving you My introduction. I come every 5000 years at this most auspicious confluence age. I also explain to you how I come. There are the pictures too. Brahma doesn’t exist in the subtle region. Brahma is here and Brahmins are also here. He is called the great-great-grandfather and there is his genealogical tree. The genealogical tree of the human world would only start with Prajapita Brahma. He is Prajapita (Father of People) and so there must definitely be his people too. They cannot be a physical creation of his, and so they must surely be adopted. He is the greatgreatgrandfather and so he must surely have adopted everyone. All of you are adopted children. You have now become Brahmins and you then have to become deities. To change from shudras into Brahmins and Brahmins into deities is to perform a somersault. There is also the variety-form image. Everyone definitely has to come here from there. When everyone has come down, the Creator then also comes. He is the Creator and the Director and He also acts. The Father says: O souls, you know Me. All of you souls are My children. You first adopted bodies in the golden age and played such good parts of happiness. Then, whilst taking 84 births, you came into so much sorrow. There are creatorsdirectors and producers of dramas. This drama is unlimited; no one knows the unlimited drama. They show such things on the path of devotion and they have become fixed in the intellects of people. The Father now says: Sweetest children, all of those are the scriptures of the path of devotion. There is a lot of paraphernalia of the path of devotion. Just as the expansion of a seed is the tree – such a huge tree spreads from such a tiny seed – there is also so much expansion of devotion. Knowledge is the seed and there is no other paraphernalia needed for it. The Father says: Consider yourself to be a soul and remember the Father. There are no other vows or disciplines. All of that comes to an end. Once you have received salvation, there is no need for anything else. You have done a lot of devotion and so I have come to give you the fruit of that. Deities used to reside in Shivalaya. This is why people go to the temples and sing their praise. The Father now explains: Sweetest children, I also explained to you 5000 years ago: Consider yourselves to be souls. Renounce all relationships of bodies and remember Me, your Father, and your sins will be burnt away in this fire of yoga. Whatever the Father explains now, He has explained every cycle. There are some good words in the Gita too. “Manmanabhav” means: Remember Me alone. Shiv Baba says: I have come here. I also tell you whose body I enter. I tell you the essence of all the Vedas and scriptures through Brahma. People show these images, but they don’t understand the meaning of them. You now understand how Shiv Baba tells you the essence of all the scriptures through the body of Brahma. He also explains to you the secrets of the drama of 84 births. I come at the end of this one’s many births. This one then becomes the number one prince and goes through 84 births. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Whilst living in this kingdom of Ravan, let go of the code of conduct of impure family clans and the opinions of society and accept the things the unlimited Father says. Whilst living at home with your family, live like a lotus flower.
  2. Understand this unlimited variety play very well. Souls play their parts in this and are not immune to the effect of action. Souls perform good and bad acts and receive the fruit of those. Understand the significance of this and perform elevated acts.
Blessing: May you be a true server who is egoless and show the practical form of the true knowledge with your spiritual authority.
When a tree has the authority of being laden with fruit, it begins to bow down, that is, it does service by being humble. In the same way, children who have spiritual authority will be humble and loving to everyone to the extent that they are great authorities. Those who have short-lived authority are egoistic, whereas those who have the authority of truth are egoless while having that authority. These are the practical forms of true knowledge. However much authority true servers have in their attitude, there will accordingly be that much love and humility in their words.
Slogan: You cannot receive fortune without having renunciation.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 6 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 6 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 5 September 2018 :- Click Here

06/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, stop remembering your own bodies and everyone else and recognise the Father accurately as He is and what He is and consider yourselves to be points and remember the Father in the form of a point.
Question: Which knowledge do you receive only from the Father at this time, knowledge that no one else can give you?
Answer: You live together as husband and wife, look after your household and also remain pure. The Father gives you this knowledge at this time. No one else can give you this knowledge. You have to donate the five vices, but the main one is lust which you have to conquer completely. Only by remembering the Almighty Authority and following His directions do you receive strength for this.
Song: Have mercy on those who are unhappy.

Om shanti. That Father sits here and explains to you children. Who is that Father? You children, in front of whom the Father is personally sitting, know this. The intellects’ yoga of you children is with the unlimited Father. You have to break your intellect’s yoga away from limited fathers. You have to forget all the friends and relatives, your own bodies and bodily relations of this whole world. You receive this direction from the Father. The Father never forgets the children. The Father says: Even on the path of devotion, I have been looking after you devotees. However, according to the drama, you children had to forget this. It is Maya that makes you forget this. Ravan also makes you forget that you are souls and makes you body conscious. This is in the parts of you children. It isn’t that you simply forget the Father there. You also forget to remember the Father, who He is and what He is and also the knowledge of Him giving you happiness. You now know that the Father comes here every cycle. Your intellects also have to imbibe what Baba is like. People have made large images of Shivalingams. The pictures of all the others are fine, just as the picture of Brahma, Vishnu and Shankar is fine and they are worshipped in the temples. However, they forget the name, form, place and time of the Supreme Father, the Supreme Soul. They even forget His image. It has been explained to you children that a soul is a point. It is a point, like a star ; it resides in the centre of the forehead. You children know that you are souls. The place of residence of myself, the soul, is in the body, in the centre of the forehead. Everyone would accept this. It is very subtle, like a point. You also know that the Supreme Father, the Supreme Soul, would also be a point in the same way. He Himself comes and explains to you: I too am a point. However, people have made His form big, like a jyotilingam, in the same way as they have made a big form of Buddha. On the path of devotion, they have portrayed the Pandavas with very tall bodies. On the path of devotion, they have big images, whereas on the path of knowledge, they have smaller things. God says: I am a point. In some places they keep large images of a lingam. How would a point be worshipped? It would definitely be something large that is worshipped. The form of a point has now been explained to you. People do not understand these things. You children also did not have this understanding previously. Now that your stage has matured, you understand that this is accurate. If Baba had explained this at the beginning, we would not have understood, because a point is really nothing. We would not have accepted that. They speak of the Shivalingam from time immemorial, so what is that? The Father explains: That too is wrong. I, your Father, am a point. You too have the form of a point, but they create large Shivalingams for worshipping etc. They make the form of souls like saligrams, but they are not like that. A soul cannot be that big. It is very difficult to see a soul. These are very deep things and have to be understood. A soul too is the form of a point. The part of 84 births is recorded in such a tiny soul. One second cannot be the same as the next. The whole part of 84 births is recorded in such a tiny soul. These things are nature. The whole part is in the point. In other plays, the whole roles remain in the intellects of those who are to play their parts. Those are small roles, but you have to understand this role of 84 births very well and you also need clever ways of explaining to others. Each soul is such a tiny point. It is so tiny and yet it is so powerful. He is called the Supreme Father, the Supreme Soul. You souls become master almighty authorities by having yoga with Him. You conquer Maya and then rule the unshakeable, immovable, peaceful and happy kingdom. These matters have to be understood. This is your study. It is very easy. Only the Father can explain this; no human being can explain it. He is truly such a tiny thing, but He is given such a big name: the Ocean of Knowledge. You say that He is the Seed of the human world tree. He is Living, He is the Truth, He is imperishable. People have been saying this but it doesn’t enter anyone’s intellect what He is. They praise His virtues a great deal. You children are now sitting personally in front of the Father. You know that souls are personally in front of Him. All souls are brothers. Just think about it: souls are such tiny points. When we draw a picture of the incorporeal world, we show the form of points. Just as stars hang in the sky, in the same way we souls will be hanging in our own section in the great element. The tree has been made up of tiny stars. Souls come from there and adopt bodies to play their parts. Your intellects should work on how souls come down, numberwise. The section of each religion would be separate. The Father explains to you with examples. He also explains to you the example of the banyan tree. The Hindi language is used in many places and so children have to explain in that language. The Supreme Father, the Supreme Soul, also explains using the Hindi language. Nowadays, they continue to spread this widely everywhere. It is difficult for there to be just one language. Some people think that the Supreme Father, the Supreme Soul, knows all languages, but it cannot be like that. There are so many different languages. They would have to be learnt. The Supreme Father, the Supreme Soul, doesn’t need to learn anything. He explains in the same language that He used in the previous cycle. However, everyone has to study their own language. Would the Father have to learn it? You can see that the Hindi language has been used from the beginning. Everyone continues to learn Hindi. The Hindi language is widely used in Bharat. The Father also explains using Hindi and then everyone has to translate it into their own language and explain to others. The introduction of the Father and His creation has to be explained to everyone. That one Father is the Bestower of Salvation for All. Everyone will come to know that the Father truly has come. The Father says: I only come in Bharat. Bharat is My birthplace. The temples to Shiva and the temples to the deities are also here (in Bharat). The kingdom of the deities is also in Bharat. The Father too comes in Bharat. The establishment of the deity religion takes place here. Therefore, the temples also definitely need to be here.Others wouldn’t have as many temples. Here, there are many temples. They have pictures of Lakshmi and Narayan, Radhe and Krishna, Rama and Sita in every home because they existed in Bharat. However, they have forgotten how they claimed the kingdom. They ruled the kingdom in the living form. Lakshmi and Narayan are the empress and emperor of Paradise. You also know how long it has been since they ruled the kingdom. You say: Three thousand years before Christ ,there was the kingdom of deities. So, it is now 2000 years since Christ existed. Therefore, explain these particular points to those who say this. They say that there was the kingdom of deities 3000 years before Christ, that is, there was heaven. They don’t say that Christ was in that heaven. You should ask: Where were the Christians at that time? That is, where were their souls? Where were the souls of all of those of Islam, the Buddhists and the Christians? It is very easy to explain these things. They were all in the land of nirvana, the incorporeal world. There is the incorporeal world. There must definitely be many living in the world. The place of residence of all souls is the incorporeal world, the great element. It is now in the intellects of you children that the souls of all the deities are present here at this time. This is when the Father comes and once again carries out establishment of the deity religion. For example, when a new religion begins, it is very small at first. When the small branches emerge and come to an end, your foundation will also be complete. It is very easy to explain the secret of the Seed and the tree. The tree of the human world is that of many religions. They understand that when such-and-such a religion existed, such-and-such a religion didn’t exist. Now, smaller religions are emerging; they didn’t exist previously. The small branches have emerged now. Only you children know this. No one else knows it. They don’t know the point-form of souls and the Supreme Soul. Baba has now come and explained to you children. You say: Baba, we are Your children. We also met you in the previous cycle; we became Your children. You become the children to claim the Father’s inheritance. The Father says: You belong to Me, that is, you have become the mouth-born adopted creation. All of you are adopted. Baba says through the mouth of Brahma: You souls are Mine. You souls also say: Baba, You have entered the body of Brahma and given us Your introduction, and so we belong to You. As soon as you say, “Baba”, you should receive the fragrance of the inheritance. Only the children can say this. This is the family path. Sannyasis have disciples; they are not father and children. Only from their father is the inheritance of property received. Those people say that they have adopted a guru. The inheritance of property cannot be received from a guru. They renounce their property and go away to the forests. They cannot give any property. They belong to the path of isolation. The Father gives you property, whereas you don’t receive anything from them. When they go to a forest, they are called sannyasis. You too are called sannyasis. They are hatha yoga sannyasis whereas you are Raja Yogi sannyasis. ‘Sannyasis’, means those who renounce the five vices. You renounce them and then go to the pure world. They have renunciation, but they don’t go to the pure world, they only remain in the impure world. The Father explains: A soul is so tiny. Such a tiny thing has so much strength. It is also imperishable. That Father explains through this body. You souls understand it. The Father says: I come when it is the end of the iron age and everyone is tamopradhan and impure. It is then that you remember Me. I come when it is the confluence age. It is then that the signs of destruction are visible. You truly can see them. You have now received understanding which you have to give to others. It is now definitely the end of the iron age. There are also the Yadavas, Kauravas and Pandavas. There is also the Mahabharat War. Truly, they studied Raja Yoga at that time. The Pandavas gained victory and the Yadavas and Kauravas were destroyed. There is just the one religion in heaven. All the innumerable religions end. The Father sits here and explains this. You children know that we claim the deity status from the Father through these teachings of Raja Yoga. Definitely you make effort to become Narayan from an ordinary man: We will definitely become the Father’s heirs and be seated on the heart-throne. Then you will claim a status according to how much effort you made. Effort-makers cannot remain hidden; they are very intoxicated. First of all, you make a promise. After the Father’s birth, there is the festival of Raksha Bandhan. So, having come to know the Father, you have to make a promise to Him. The Father says: Lust is the greatest enemy. All the five vices have to be donated. The main one is lust. You have to remain very cautious about it. Although you live with your wife and family, to remain pure is something that requires effort. By remembering and following the directions of the Almighty Authority Father, you receive strength. The Father’s orders are: While living together, you have to remain pure. Previously, when husband and wife lived together, there used to be fire. The Father says: Live together, but there must be no fire. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep the Father in your heart and maintain the happiness of receiving the property. You definitely have to become completely pure.
  2. Just think about how tiny a soul is and how it has such an imperishable part recorded in it. Become a point and stay in remembrance of the Father, a point.
Blessing: May you become an easy yogi by putting a full stop to the past knowing the importance of the full stop.
The easiest punctuation is the full stop. BapDada simply tells us about the account of the full stop. Become a point yourself, remember the Point and, knowing about every scene of the drama, apply a full stop. Know the importance of the full stop and put a full stop to the past and become a point and you will become an easy yogi. In any case, we now have to become points and return home. Everyone resides in the home in the point form where thoughts, actions and sanskars are all merged.
Slogan: Be a karma yogi and while performing actions, remain beyond, that is, become a flying bird.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 6 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 September 2018

To Read Murli 5 September 2018 :- Click Here
06-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – देह सहित सबकी याद भूल, बाप जो है जैसा है उसे यथार्थ पहचान स्वयं को बिन्दी समझ बिन्दी रूप से बाप को याद करो”
प्रश्नः- कौन सा ज्ञान इस समय बाप से ही तुम्हें मिलता है और कोई नहीं दे सकते?
उत्तर:- तुम स्त्री-पुरुष साथ में रहते गृहस्थ व्यवहार की सम्भाल करते पवित्र रहो, यह ज्ञान अभी इसी समय बाप तुम्हें देते हैं और कोई यह ज्ञान दे नहीं सकता। तुम्हें दान तो 5 विकारों का करना है लेकिन मुख्य है काम, जिस पर पूरी विजय पानी है। सर्वशक्तिमान बाप की याद और श्रीमत पर चलने से ही यह ताकत मिलती है।
गीत:- दु:खियों पर रहम करो …….

ओम् शान्ति। वही बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। कौन है यह बाप? यह बच्चे जानते हैं, जिनके सम्मुख बाप बैठे हैं। अब तुम बच्चों की बुद्धि का योग बेहद के बाप तरफ है। बुद्धि का योग अभी हद के बाप से तोड़ना है। सारी दुनिया के जो भी मित्र संबंधी हैं, बल्कि इस देह को, दुनिया को सबको भूलना है। यह बाप के डायरेक्शन मिलते हैं। बाप बच्चों को कभी नहीं भूलते हैं। बाप तो कहते हैं भक्ति मार्ग में भी तुम भक्तों की हम सम्भाल करते आये हैं। परन्तु ड्रामा अनुसार तुम बच्चों को भूलना ही है। भुलवाती है माया। हम आत्मा हैं – यह भी रावण भुला देते हैं। देह-अभिमानी बना देते हैं। यह तुम बच्चों का पार्ट है। ऐसे नहीं कि तुम वहाँ सिर्फ बाप को भूल जाते हो, परन्तु वह जो है जैसा है उस बाप की याद और सुख देने का ज्ञान भूल जाते हो।

अभी तुम जानते हो बाबा कल्प-कल्प आते हैं। बाबा कैसा है – यह भी बुद्धि में धारण करना है। मनुष्यों ने तो शिवलिंग का बड़ा चित्र बना दिया है। और सभी के चित्र तो ठीक हैं। जैसे ब्रह्मा, विष्णु और शंकर का चित्र भी ठीक है, मन्दिरों में पूजे जाते हैं। परन्तु परमपिता परमात्मा का नाम, रूप, देश, काल जो है, वह भूल जाते हैं। चित्र भी भूल जाते हैं। अभी तुम बच्चों को समझाया जाता है कि आत्मा बिन्दी रूप है। स्टॉर मिसल बिन्दी है। भृकुटी के बीच में रहती हैं। बच्चे जानते हैं – हम आत्मा हैं। शरीर की भ्रकुटी के बीच मुझ आत्मा का स्थान है। यह तो सब मानेंगे। बहुत सूक्ष्म बिन्दी जैसी है। यह भी जानते हो परमपिता परमात्मा भी ऐसे बिन्दी रूप ही होगा। खुद आकर समझाते हैं मैं भी बिन्दी हूँ, परन्तु मनुष्यों ने बड़ा रूप ज्योर्तिलिंगम् बना दिया है। जैसे बुद्ध का भी बड़ा लम्बा चौड़ा रूप बनाते हैं। पाण्डवों के शरीर भी भक्ति मार्ग में बहुत लम्बे बनाते हैं। भक्ति मार्ग में लम्बे चित्र होते हैं। ज्ञान मार्ग में छोटी चीज़ होती है। परमात्मा कहते हैं मैं बिन्दी हूँ। कहाँ-कहाँ बहुत बड़ा लिंग भी रखते हैं। नहीं तो बिन्दी की पूजा कैसे हो सके। पूजा तो जरूर बड़ी चीज़ की होगी ना। तुमको अभी बिन्दी रूप समझाया है। इन बातों को मनुष्य तो समझ न सकें। तुम बच्चों को भी पहले यह समझ नहीं थी। अभी जब परिपक्व अवस्था हुई है तो समझते हो यह तो यथार्थ बात है। अगर शुरू से लेकर बाबा भी समझाते तो हम समझ नहीं सकते क्योंकि बिन्दी कोई चीज़ तो है नहीं। हम मानते नहीं। परम्परा से शिवलिंग कहा जाता, यह फिर क्या है? तो बाप समझाते हैं कि वह भी रांग है। मैं जो तुम्हारा बाप हूँ, मैं बिन्दी हूँ। तुम्हारा भी बिन्दी रूप है। परन्तु पूजा आदि के लिए बड़ा शिवलिंग बनाते हैं। आत्माओं का रूप भी सालिग्राम बनाते हैं परन्तु ऐसे है नहीं। आत्मा इतनी बड़ी हो नहीं सकती। आत्मा देखने में भी बड़ा मुश्किल आती है। यह समझने की बड़ी गुह्य बाते हैं। आत्मा भी बिन्दी रूप है। इस छोटी सी आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट है। एक सेकेण्ड न मिले दूसरे से। 84 जन्मों का पार्ट सारा एक छोटी-सी आत्मा में नूँधा हुआ है। यह बड़ी कुदरत की बात है। सारा पार्ट बिन्दी में रहता है। उस नाटक में भी पार्ट बजाने वालों की बुद्धि में सारा पार्ट रहता है ना। वह है छोटा पार्ट, यह 84 जन्मों का पार्ट भी अच्छी रीति समझना है और फिर समझाने की भी बड़ी युक्ति चाहिए। इतनी छोटी बिन्दी है, कितनी छोटी है, कितनी शक्तिवान है! उनको परमपिता परमात्मा कहा जाता है। तुम आत्मायें उनसे योग लगाने से मा. सर्वशक्तिमान बनते हो। माया पर जीत पाकर अटल, अखण्ड, सुख-शान्तिमय राज्य करते हो। कितनी समझने की बातें हैं।

यह है पढ़ाई। है भी बहुत सहज। यह बाप ही समझा सकते हैं, कोई मनुष्य नहीं समझा सकते हैं। बरोबर इतनी छोटी चीज़ परन्तु नाम कितना बड़ा रखते हैं – ज्ञान का सागर। तुम कहते हो मनुष्य सृष्टि का बीज-रूप, चैतन्य है, सत है, अविनाशी है। कहते आते हैं परन्तु किसकी बुद्धि में नहीं आता है – वह क्या वस्तु है? गुण तो बहुत अथाह गाते हैं। अभी तुम बच्चे बाप के सम्मुख बैठे हो। जान गये हो। आत्मायें तो सम्मुख ही हैं। सब आत्मायें ब्रदर्स ही हैं। कितनी छोटी-छोटी बिन्दी है, विचार करो। मूलवतन का हम जो चित्र बनाते हैं उसमें बिन्दू रूप ही दिखाते हैं। जैसे स्टॉर्स आकाश तत्व में ऊपर खड़े हैं, वैसे ही महतत्व में भी हम ऐसे स्टॉर माफिक अपने-अपने सेक्शन में खड़े होंगे। झाड़ छोटे-छोटे स्टॉर्स का बना हुआ है। वहाँ से फिर आत्मा आती है, शरीर धारण करती है – पार्ट बजाने लिए। कैसे नम्बरवार आत्मायें आती हैं – यह सारी बुद्धि चलनी चाहिए। हर एक धर्म का सेक्शन अलग होगा। बाप दृष्टान्त दे समझाते हैं। बनेन ट्री का भी मिसाल समझाते हैं। हिन्दी बहुत जगह चलती है, तो बच्चों को हिन्दी भाषा में समझाना पड़ेगा। परमपिता परमात्मा भी हिन्दी भाषा में ही समझाते हैं। आजकल जहाँ-तहाँ इसका प्रचार करते रहते हैं। एक भाषा होना तो मुश्किल है। कई समझते हैं परमपिता परमात्मा तो सब भाषायें जानते होंगे। परन्तु ऐसे तो हो न सके। अथाह, अनेकानेक भाषायें हैं। वह तो सीखनी पड़ती हैं। परमपिता परमात्मा को तो कुछ सीखना नहीं है। उन्होंने कल्प पहले जिस भाषा में समझाया है, उसमें ही समझाते हैं। बाकी भाषायें तो हरेक को पढ़नी होती हैं। बाप को पढ़नी होती हैं क्या? तुम देखते हो शुरू से हिन्दी चली है। सब हिन्दी सीखते जाते हैं। भारत में हिन्दी का प्रचार है। बाप भी हिन्दी में समझाते हैं फिर हर एक को अपनी भाषा में ट्रांसलेशन कर औरों को समझाना पड़े। बाप और बाप की रचना का परिचय सबको समझाना है। सभी का सद्गति दाता वह एक बाप है। यह सब जानेंगे बरोबर बाप आया हुआ है। बाप कहते हैं मैं भारत में ही आता हूँ। भारत हमारा बर्थ प्लेस है। शिव के मन्दिर, देवी-देवताओं के मन्दिर भी यहाँ हैं। देवी-देवताओं का राज्य भी भारत में होता है। बाप भी भारत में आते हैं। देवी-देवता धर्म की स्थापना यहाँ ही की है। तो मन्दिर भी जरूर यहाँ चाहिए। औरों के इतने मन्दिर नहीं होंगे। यहाँ तो बहुत मन्दिर हैं। घर-घर में लक्ष्मी-नारायण के चित्र, राधे-कृष्ण के चित्र, राम-सीता के चित्र रखते हैं क्योंकि भारत में होकर गये हैं। परन्तु उन्होंने कैसे राज्य लिया – वह भूल गये हैं। चैतन्य में राज्य करके गये हैं। लक्ष्मी-नारायण वैकुण्ठ के महाराजा-महारानी हैं। उन्हों को राज्य किये कितना समय हुआ? यह भी जानते हैं। मुख से कहते भी हैं क्राइस्ट से 3 हजार वर्ष पहले देवी-देवताओं का राज्य था। तो क्राइस्ट को 2 हजार वर्ष हुए ना। तो जो ऐसे कहते हैं उन्हें उसी बात पर समझाना चाहिए। कहते हैं क्राइस्ट से 3 हजार वर्ष पहले देवी-देवताओं का राज्य था अर्थात् स्वर्ग था। ऐसे नहीं कि क्राइस्ट भी उस स्वर्ग में था। पूछेंगे क्रिश्चियन लोग तब कहाँ थे? यानी उन्हों की आत्मायें कहाँ थी? इस्लामी, बौद्धी, क्रिश्चियन आदि की आत्मायें सब कहाँ थी? यह समझाना तो बड़ा सहज है। वह सब निर्वाणधाम वा निराकारी दुनिया में थी। निराकारी दुनिया भी है, दुनिया में जरूर बहुत रहने वाले होते हैं। सभी आत्माओं का निवास स्थान महतत्व रूपी निराकारी दुनिया में है। तुम बच्चों की बुद्धि में अभी यह है कि इस समय सब देवी-देवताओं की आत्मायें हाजिर हैं, तब बाप आये हैं, फिर से देवी-देवता धर्म की स्थापना करते हैं। समझो, कोई धर्म आता है पहले तो बहुत छोटा होता है। छोटी-छोटी शाखायें निकल जब पूरी होती हैं तब यह तुम्हारा फाउन्डेशन भी पूरा होता है।

बीज और झाड़ का राज़ समझाना तो बहुत सहज है। मनुष्य सृष्टि का झाड़ बहुत धर्मों का है। समझते भी हैं फलाना धर्म था तो फलाना धर्म नहीं था। अभी छोटे-छोटे धर्म निकलते हैं। आगे तो नहीं थे ना। छोटी-छोटी शाखायें तो अभी निकली हैं। यह तुम बच्चे जानते हो और कोई नहीं जानते। आत्मा और परमात्मा का बिन्दी रूप नहीं जानते हैं। अभी बाबा ने तुम बच्चों को आकर समझाया है। तुम कहते हो बाबा हम आपके बच्चे हैं। कल्प पहले भी आपसे मिले थे। आपके बच्चे बने थे। बच्चे बनते हैं, बाप का वर्सा लेने। बाप कहते हैं तुम हमारे हो, गोया एडाप्ट किया, मुख वंशावली बने। तुम सब एडाप्टेड हो। बाबा भी ब्रह्मा मुख से कहते हैं – तुम आत्मायें हमारी हो। तुम आत्मायें भी कहती हो बाबा आपने जो ब्रह्मा तन में आकर अपना परिचय दिया है, हम आपके हैं। बाबा कहने से ही वर्से की खुशबू आनी चाहिए। बच्चे ही कह सकते। यह है प्रवृत्ति मार्ग। सन्यासियों के शिष्य बनते हैं, वह बाप-बच्चे नहीं बनते। वर्सा बाप से जायदाद का मिलता है। वह तो कहेंगे हमने गुरू किया है। गुरू से तो जायदाद का वर्सा नहीं मिलेगा। वह तो जायदाद को छोड़ जंगल में चले जाते हैं। वह जायदाद दे न सकें। वह हैं ही निवृत्ति मार्ग वाले। बाप तो जायदाद देते हैं, उनसे कुछ नहीं मिलता। जंगल में जायेंगे तो सन्यासी कहलायेंगे। तुम भी सन्यासी कहलाते हो। वह हैं हठयोगी सन्यासी। तुम राजयोगी सन्यासी हो। सन्यासी अर्थात् 5 विकारों का त्याग करने वाले। सो तो तुम त्याग करते हो और फिर पवित्र दुनिया में चले जाते हो। वह त्याग करते हैं परन्तु पवित्र दुनिया में नहीं जाते, पतित दुनिया में ही रहते हैं।

तो बाप समझाते हैं आत्मा कितनी छोटी है! इतनी छोटी वस्तु में कितनी ताकत है, अविनाशी भी है। वह बाप इस शरीर द्वारा समझाते हैं, तुम्हारी आत्मा समझती है। बाप कहते हैं मैं आता ही तब हूँ जब कलियुग का अन्त है। तमोप्रधान पतित हो जाते हैं। मुझे याद भी तब करेंगे जब संगम होगा तब ही हम आयेंगे, तब ही विनाश के चिन्ह भी देखने में आयेंगे। सो तो बरोबर देखते हो। अभी तुमको समझ मिलती है, वह फिर औरों को देनी है। अभी कलियुग का अन्त जरूर है। यादव, कौरव, पाण्डव भी हैं। महाभारत लड़ाई भी है। बरोबर, उस समय राजयोग भी सीखते थे। पाण्डवों ने विजय पाई, यादव-कौरव विनाश हुए। स्वर्ग में तो एक ही धर्म होता है। अनेक धर्म ख़लास हो जाते हैं। यह बाप बैठ समझाते हैं। बच्चे जानते हैं बाबा की इस राजयोग की शिक्षा से हम बरोबर सो देवी-देवता पद पाते हैं। तुम पुरुषार्थ करते हो हम तो नर से नारायण ही बनेंगे। बाप का वारिस जरूर बनेंगे, तख्तनशीन बनेंगे। फिर जितना जो पुरुषार्थ करेंगे उतना पद पायेंगे। पुरुषार्थी छिपे नहीं रहते, वह बड़े मस्त होते हैं। पहले-पहले प्रतिज्ञा करते हैं। बाप के जन्म बाद है रक्षाबन्धन। बाप को जानते तो पहले प्रतिज्ञा करनी है। बाप कहते हैं काम महाशत्रु है। दान तो पाचों ही विकारों का करना है परन्तु पहले-पहले मुख्य काम है, इनसे बड़ा ख़बरदार रहना है। भल स्त्री भी साथ हो, गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र रहना मेहनत का काम है। सर्वशक्तिमान बाप को याद करने और उनकी श्रीमत पर चलने से ताकत मिलती है। बाप का फ़रमान है – साथ में रहते, इकट्ठे रहते पवित्र रहना है। आगे तो स्त्री पुरूष इकट्ठे रहने से आग लगती थी। बाप कहते हैं इकट्ठे रहो परन्तु आग न लगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारण के लिए मुख्य सार:-

1) दिल से बाप को याद कर जायदाद की खुशी में रहना है। पूरा पावन जरूर बनना है।

2) विचार करना है – ”आत्मा कितनी छोटी है और उसमें कितना अविनाशी पार्ट नूँधा हुआ है”, बिन्दू बन बिन्दू बाप की याद में रहना है।

वरदान:- बिन्दू की मात्रा के महत्व को जान बीती को बिन्दी लगाने वाले सहजयोगी भव
सबसे सरल मात्रा बिन्दी है। बापदादा सिर्फ बिन्दी का हिसाब बताते हैं। स्वयं भी बिन्दु रूप बनो, याद भी बिन्दु को करो और ड्रामा के हर दृश्य को जानने करने के बाद बिन्दु की मात्रा लगा दो। इस बिन्दु की मात्रा के महत्व को जान बीती को बिन्दी लगा दो, बिन्दू बन जाओ तो सहजयोगी बन जायेंगे। वैसे भी अब बिन्दी बन घर जाना है। घर में सब बिन्दू रूप में रहते जहाँ संकल्प, कर्म, संस्कार सब मर्ज हैं।
स्लोगन:- कर्मयोगी बन कर्म करते भी उपराम स्थिति में रहना अर्थात् उड़ता पंछी बनना।
Font Resize