6 december ki murli

TODAY MURLI 6 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 6 December 2020

06/12/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
20/02/87

The three lines of remembrance, purity and being a true server.

Today, the Father, the World Server who is loving to all, has come to meet His children who are always serving. BapDada, the Server, loves His children who are servers, equal to Him all the time. Today, Baba is especially seeing the three lines sparkling on the forehead of all the server children. Each one’s forehead is sparkling like a trimurti tilak. What are these three lines a sign of? From this trimurti tilak the present result of each child can be seen. One is the line of a complete yogi life. The second is the line of purity. The third line is that of a true server. Baba was seeing the result of all three lines of all the children. Everyone’s line of remembrance is sparkling, but numberwise. The lines of some have been unadulterated from the beginning to now, that is, they have always been lost in the love of One. Secondly, has it always been unbroken? Has the line always been straight, that is, has there always been the love of all relationships directly with the Father? Or, did you experience yourself to have forged a relationship with the Father through instrument souls? Do you have the direct support of the Father or do you experience the Father’s support through the support of another soul? One are those whose lines are straight, and the other are those whose lines are a little crooked in between. These are the specialities of the line of remembrance.

The second is the line of complete purity. This too is numberwise. One is that as soon as you took Brahmin birth you received the blessing of Brahmin life, the special blessing from the Father, and you experienced this blessing in your life constantly and easily. This line is straight from the beginning until now. Others do not experience the blessing of this Brahmin life in the form of a right; they sometimes adopt it easily and at other times with a lot of hard work and effort. Their line is not always straight and sparkling. In fact, the basis of success in remembrance and service is purity. Purity is not just about being celibate, but the complete form of purity is that, together with being celibate (brahmchari), you also have to be one who follows Father Brahma (Brahma-chari). Brahma-chari means those who follow the activities of Father Brahma. This is known as “follow Father”,because you have to follow Father Brahma. You have to become equal to Father Shiva in your stage, but you have to follow Father Brahma in your activities and your actions. Be celibate at every step. Observe the vow of celibacy constantly in your thoughts and also your dreams. The meaning of purity is constantly to make the Father your Companion, and always to stay in the Father’s company. Have you made Him your Companion? It is essential to feel, “Baba is mine”, but also at all times to have only the Father’s company. This is called complete purity. The company of a gathering and the codes of conduct of the love of the family are a different matter and that too is essential. However, do not forget that you have the company of the love of the family because of the Father. You have the love of the family but whose family is it? The Father’s. Where would the family come from if it weren’t for the Father? The love of the family and the gathering of the family are very good, but do not forget the Seed of the family. You sometimes forget the Father and seek the company of the family. If, every now and again, you leave the Father, there is then an empty space in between and Maya will enter it. Therefore, while living with everyone with love, and while having an exchange of love, do not forget the gathering (community). That is called purity. You are all clever at understanding, are you not?

Some children find it hard work to move forward to the stage of complete purity, and that is why they have the thought, now and then, of making someone their companion; they also have the thought that it is essential to have someone’s company. You don’t have to become a sannyasi, but do not forget the Father’s company while staying in the company of souls. Otherwise, at a time of need, you will remember that soul’s company and forget the Father. So, you can be deceived at a time of need. This is because, if you have the habit of taking the support of physical, bodily beings, you will remember the bodily beings first and you will remember the avyakt father and the incorporeal Father later. If, at any time, you remember the support of corporeal beings first, then that becomes number one, and the Father becomes number two. So, what status would you receive if you kept the Father as the number two? Would it be number one or two? Simply to take co-operation or to be loving is a different matter from making someone your support. This is something very deep. You have to understand this accurately. In some gatherings, instead of being loving, you become detached. You are afraid that you might get trapped and so you think it would be better to keep yourself at a distance, but no! You have to live in a household and with a family for 21 births, do you not? So, if you keep yourself at a distance because of fear, and become isolated, then those become the sanskars of a karma sannyasi. You have to become karma yogis, not karma sannyasis. Although you have to remain in a gathering and be loving, you must let the one Father and none other be the support for your intellect. No soul’s company, virtue or speciality should attract your intellect: that is called purity.

When you find that purity is hard work, it proves that you have not taken the blessing you receive at birth from the Father, the Bestower of Blessings. A blessing doesn’t require labour. Every Brahmin soul has received the first blessing of Brahmin life: “May you be pure, may you be yogi.” So, ask yourself: Have I received the blessing of purity or have I adopted purity by working hard? Remember that this is your Brahmin birth. It isn’t just a transformed life, but it is a life that has been transformed on the basis of a Brahmin birth. Sanskars of birth are very easy and natural. You also say this among yourselves: My sanskars have been like this from birth. The sanskars of a Brahmin birth are “May you be yogi, may you be pure.” This is a blessing and also your original sanskar. Two things are essential in life: One is a companion and the other is company. That is why the Trikaldarshi Father, knowing everyone’s needs, becomes your best Companion and also gives you the best companyDouble-foreign children especially need both of these. That is why BapDada gave you the experience of the Companion from the moment you took Brahmin birth. He made you into brides. You found your Companion as soon as you took birth, did you not? Have you found your Companion or are you looking for Him? Therefore, experience purity as your original sanskar. That is called an elevated line. Your foundation is strong, is it not?

The third line is that of a true server. There is also the line of a server on everyone’s forehead. You cannot stay without doing service. Service is the means to make Brahmin life constantly free from obstacles, and it is also in service that you have more test papers. A server who is free from obstacles is said to be a true server. It is fixed in the drama for obstacles to come. They have to come and they will continue to come, because these obstacles or test papers make you experienced. Do not consider it to be an obstacle, but look at it with the feeling that you are being made to progress by your experience and you will then experience it to be a ladder of progress. You have to move ahead even more through this because service means a gathering from where you experience blessings from all souls. Service is a means to receive blessings from everyone. If you look at it in this way and with this attitude, you will always experience yourself to be moving forward as an authority of experience. Do not consider an obstacle to be an obstacle and do not consider the soul who has been instrumental for the obstacle to be a soul who brings obstacles, but consider that soul to be your teacher to make you experienced. Since you say that the one who defames you is your friend, then the one who makes you pass through obstacles and makes you experienced is your teacher, is he not? He taught you a lesson, did he not? Nowadays, you have doctors who make you do exercises to remove illnesses. Initially, it hurts you to do those exercises, but that pain makes you free from pain for all time. However, those who do not understand this, cry out in pain saying that they are being given even more pain, even though the cure is merged in that pain. In the same way, the form may be that of an obstacle, and that soul may appear to be a soul who brings obstacles, but that soul becomes instrumental to make you overcome obstacles and makes you unshakeable for all time. That is why a soul who is free from obstacles is said to be a true server. Those who have such an elevated line are called true servers.

To have a constantly clean intellect, a clean attitude and to perform pure actions is an easy way to attain success in service. Before you begin any service, first of all check whether there is the slightest awareness of anything of the past, instead of cleanliness. If there is, your way of seeing and speaking to that soul will be with that attitude and vision. You will then be unable to achieve the complete success that you would have by doing service with cleanliness. To finish all the things of the past and all the different attitudes is cleanliness. Even to think about the past is a slight sin to some percentage. Even thoughts create a world and to speak about something is an even bigger thing. This is because, even by just having those thoughts, the awareness of those old thoughts makes the world and the atmosphere like that. You then say, “Whatever I said happened, did it not?” But, why did it happen? Your weak and wasteful thoughts created that world of a wasteful atmosphere. Therefore, a true server is one who finishes even old vibrationsScientists destroy weapons with weapons and they use an aeroplane to make another one crash. When they are at war, they finish one another off completely. So, your pure vibrations can make pure vibrations emerge and finish wasteful vibrations. Thoughts can finish other thoughts. If your thoughts are powerful, then powerful thoughts will definitely finish wasteful thoughts. Do you understand? You first of all need cleanliness, that is, the power of purity, in service. Baba is seeing these three lines sparkling.

You have also heard many specialities of service. The essence of all of that is that the basis of success is to serve with an altruistic stage free from sinful thoughts. It is with this type of service that you yourself will always be content and cheerful and others will always be content as well. There cannot be a gathering without service being done. In a gathering there have to be different situations, different ideas, different methods, facilities, etc. Nevertheless, while the situations come, while hearing of the different methods, you yourself must always be one who enables many others to be combined in remembrance of One and have a constant and stable stage. Never be confused by the diversity: What should I do now because there are now many ideas? Who should I accept and who should I not accept? If you take a decision whilst being altruistic and without other thoughts, no one will have waste thoughts, because no one can stay without doing service, nor can anyone stay without having remembrance. Therefore, continue to increase service. Also continue to make yourself move forward with love, co-operation and altruistic feelings. Do you understand?

BapDada is pleased that everyone in this land and abroad, young and old, all have given the proof of service with zeal and enthusiasm. The project of the service abroad has also now been accomplished successfully. In this land, too, all the tasks have now been completed successfully with everyone’s co-operation. BapDada is pleased to see the love that you children have for doing service. Everyone’s aim of revealing the Father has been good, and you have shown the visible fruit by transforming labour into love for the Father. All you children have come here as instruments who do special service. BapDada is also singing your praise: Wah children! Wah! All of you have done very well. It isn’t that some have done something and others haven’t. Whether they are small places or big places, even those at the smaller places haven’t done any less. So, with everyone’s elevated good wishes and elevated pure feelings, the tasks worked out well and will always work out well. You took a lot of time, you used many thoughts – when you made plans, you had those thoughts, did you not? You also used physical energy, you used your wealth and also the power of the gathering. The sacrificial fire of service was completed successfully with the offerings of all the powers in both places (abroad and in this land). The projects went very well. There is no question as to whether you did well or not. They have always been fine and will always be fine. Whether you did the project of the Multimillion Minutes of Peace, or of the Golden Jubilee, both were very beautiful. The methods with which you carried out the projects were also good. In some cases, in order to increase the value of something, it is placed behind a curtain. The curtain increases the value even more and people’s curiosity is raised to see what is behind the curtain. This curtain will become the curtain of revelation. You have now prepared the ground. When a seed is sown in the earth, it is hidden underground. The seed is not kept on top, it is kept hidden underground, but it is the flowers and fruit of the hidden seed that become visible. So, you have now sown the seed and the tree will automatically continue to come onto the stage.

You are all dancing in happiness, are you not? You say, “Wah Baba!”, but you also say, “Wah service!” Achcha. BapDada has heard all the news.

This service, the service of gathering of all the different wings in this land and abroad that has taken place, is a good method of spreading the one sound in all places at the same time. In the future, too, whatever programmes you have, do the same type of service everywhere, in this land and abroad, at the same time and then bring the fruit of that service to Madhuban as a group. Because there is the same wave in all places, everyone has zeal and enthusiasm and there is a spiritual race, not competition, between everyone as to who will give the maximum proof of service. So, the name is glorified everywhere with this enthusiasm. Therefore, make a group of any profession, but let attention be paid to doing the same type of service in the same way everywhere this year. When those souls see the gathering everywhere, they too will feel enthusiastic and have a chance to move forward. Continue to make plans and move forward in this way. First of all, serve those professions in your own area and have programmes of small gatherings, and prepare the special souls from those smaller gatherings for the bigger gatherings. However, all the centres in close proximity should work together because some are not able to come here, and so they should be able to take benefit from the programmes that take place there. So, first of all, have small “sneh-milans” (loving gatherings), and then have a programme of a gathering of those from the whole zone and then let there be the big gathering in Madhuban. They will then become experienced before they come up to Madhuban. However, let there be the same topic both abroad and here for the same profession. There can also be topics that are relevant to two or three different professions. If the topic is broader, then two or three professions can participate in that. So, now prepare three types of samples from the fields of religion, politics and science. Achcha.

To all the souls who have a right to the blessing of purity, to the souls who experience a constantly stable stage and who have a constantly yogi life, to the elevated souls who are true servers at every moment with just the one thought, to the souls who have love for the world and who are world servers, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Blessing: May you become free from forgetting and making mistakes by having the awareness of the combined form and become a constant yogi.
The children who experience themselves to be combined with the Father automatically receive the blessing of “May you be a constant yogi!”, because, wherever they may be, they continue to experience a meeting. No matter how much sometimes tries to make them forget, they are free from forgetting. Such children who never forget the Father are dearly loved by the Father and they are constant yogis because the sign of love is natural remembrance. Maya cannot shake even a nail (a tiny part) of their thoughts.
Slogan: Instead of making excuses, find a solution and you will claim a right to receiving blessings.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 6 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

06-12-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 20-02-87 मधुबन

याद, पवित्रता और सच्चे सेवाधारी की तीन रेखाएं

आज सर्व स्नेही, विश्व-सेवाधारी बाप अपने सदा सेवाधारी बच्चों से मिलने आये हैं। सेवाधारी बापदादा को समान सेवाधारी बच्चे सदा प्रिय हैं। आज विशेष, सर्व सेवाधारी बच्चों के मस्तक पर चमकती हुई विशेष तीन लकीरें देख रहे हैं। हर एक का मस्तक त्रिमूर्ति तिलक समान चमक रहा है। यह 3 लकीरें किसकी निशानी हैं? इन तीन प्रकार के तिलक द्वारा हर एक बच्चे के वर्तमान रिजल्ट को देख रहे हैं। एक है सम्पूर्ण योगी जीवन की लकीर। दूसरी है पवित्रता की रेखा वा लकीर। तीसरी है सच्चे सेवाधारी की लकीर। तीनों रेखाओं में हर बच्चे की रिजल्ट को देख रहे हैं। याद की लकीर सभी की चमक रही है लेकिन नम्बरवार है। किसी की लकीर वा रेखा आदि से अब तक अव्यभिचारी अर्थात् सदा एक की लग्न में मग्न रहने वाली है। दूसरी बात – सदा अटूट रही है? सदा सीधी लकीर अर्थात् डायरेक्ट बाप से सर्व सम्बन्ध की लग्न सदा से रही है वा किसी निमित्त आत्माओं के द्वारा बाप से सम्बन्ध जोड़ने के अनुभवी हैं? डायरेक्ट बाप का सहारा है वा किसी आत्मा के सहारे द्वारा बाप का सहारा है? एक हैं सीधी लकीर वाले, दूसरे हैं बीच-बीच में थोड़ी टेढ़ी लकीर वाले। यह हैं याद की लकीर की विशेषतायें।

दूसरी है सम्पूर्ण पवित्रता की लकीर वा रेखा। इसमें भी नम्बरवार हैं। एक हैं ब्राह्मण जीवन लेते ही ब्राह्मण जीवन का, विशेष बाप का वरदान प्राप्त कर सदा और सहज इस वरदान को जीवन में अनुभव करने वाले। उन्हों की लकीर आदि से अब तक सीधी है। दूसरे – ब्राह्मण जीवन के इस वरदान को अधिकार के रूप में अनुभव नहीं करते; कभी सहज, कभी मेहनत से, बहुत पुरूषार्थ से अपनाने वाले हैं। उन्हों की लकीर सदा सीधी और चमकती हुई नहीं रहती है। वास्तव में याद वा सेवा की सफलता का आधार है – पवित्रता। सिर्फ ब्रह्मचारी बनना – यह पवित्रता नहीं लेकिन पवित्रता का सम्पूर्ण रूप है – ब्रह्मचारी के साथ-साथ ब्रह्माचारी बनना। ब्रह्माचारी अर्थात् ब्रह्मा के आचरण पर चलने वाले, जिसको फालो फादर कहा जाता है क्योंकि फालो ब्रह्मा बाप को करना है। शिव बाप के समान स्थिति में बनना है लेकिन आचरण वा कर्म में ब्रह्मा बाप को फालो करना है। हर कदम में ब्रह्मचारी। ब्रह्मचर्य का व्रत सदा संकल्प और स्वप्न तक हो। पवित्रता का अर्थ है – सदा बाप को कम्पैनियन (साथी) बनाना और बाप की कम्पन्नी में सदा रहना। कम्पैनियन बना दिया? ‘बाबा मेरा’ – यह भी आवश्यक है लेकिन हर समय कम्पनी भी बाप की रहे। इसको कहते हैं सम्पूर्ण पवित्रता। संगठन की कम्पनी, परिवार के स्नेह की मर्यादा, वह अलग चीज़ है, वह भी आवश्यक है। लेकिन बाप के कारण ही यह संगठन के स्नेह की कम्पनी है – यह नहीं भूलना है। परिवार का प्यार है, लेकिन परिवार किसका? बाप का। बाप नहीं होता तो परिवार कहाँ से आता? परिवार का प्यार, परिवार का संगठन बहुत अच्छा है लेकिन परिवार का बीज नहीं भूल जाए। बाप को भूल परिवार को ही कम्पनी बना देते हैं। बीच-बीच में बाप को छोड़ा तो खाली जगह हो गई। वहाँ माया आ जायेगी इसलिए स्नेह में रहते, स्नेह देते-लेते समूह को नहीं भूलें। इसको कहते हैं पवित्रता। समझने में तो होशियार हो ना।

कई बच्चों को सम्पूर्ण पवित्रता की स्थिति में आगे बढ़ने में मेहनत लगती है इसलिए बीच-बीच में कोई को कम्पैनियन बनाने का भी संकल्प आता है और कम्पनी भी आवश्यक है – यह भी संकल्प आता है। संन्यासी तो नहीं बनना है लेकिन आत्माओं की कम्पनी में रहते बाप की कम्पनी को भूल नहीं जाओ। नहीं तो समय पर उस आत्मा की कम्पनी याद आयेगी और बाप भूल जायेगा। तो समय पर धोखा मिलना सम्भव है क्योंकि साकार शरीरधारी के सहारे की आदत होगी तो अव्यक्त बाप और निराकार बाप पीछे याद आयेगा, पहले शरीरधारी याद आयेगा। अगर किसी भी समय पहले साकार का सहारा याद आया तो नम्बरवन वह हो गया और दूसरा नम्बर बाप हो गया। जो बाप को दूसरे नम्बर में रखते तो उसको पद क्या मिलेगा? नम्बर वन या टू? सिर्फ सहयोग लेना, स्नेही रहना वह अलग चीज़ है, लेकिन सहारा बनाना अलग चीज़ है। यह बहुत गुह्य बात है। इसको यथार्थ रीति से जानना पड़े। कोई-कोई संगठन में स्नेही बनने के बजाए न्यारे भी बन जाते हैं। डरते हैं ना मालूम फँस जाएं, इससे तो दूर रहना, ठीक है। लेकिन नहीं। 21 जन्म भी प्रवृत्ति में, परिवार में रहना है ना। तो अगर डर के कारण किनारा कर लेते, न्यारे बन जाते तो वह कर्म-संन्यासी के संस्कार हो जाते हैं। कर्मयोगी बनना है, कर्म-संन्यासी नहीं। संगठन में रहना है, स्नेही बनना है लेकिन बुद्धि का सहारा एक बाप हो, दूसरा न कोई। बुद्धि को कोई आत्मा का साथ वा गुण वा कोई विशेषता आकर्षित नहीं करे, इसको कहते हैं पवित्रता।

पवित्रता में मेहनत लगती – इससे सिद्ध है वरदाता बाप से जन्म का वरदान नहीं लिया है। वरदान में मेहनत नहीं होती। हर ब्राह्मण आत्मा को ब्राह्मण जन्म का पहला वरदान – ‘पवित्र भव, योगी भव’ का मिला हुआ है। तो अपने से पूछो – पवित्रता के वरदानी हो या मेहनत से पवित्रता को अपनाने वाले हो? यह याद रखो कि हमारा ब्राह्मण जन्म है। सिर्फ जीवन परिवर्तन नहीं लेकिन ब्राह्मण जन्म के आधार पर जीवन का परिवर्तन है। जन्म के संस्कार बहुत सहज और स्वत: होते हैं। आपस में भी कहते हो ना – मेरे जन्म से ही ऐसे संस्कार हैं। ब्राह्मण जन्म का संस्कार है ही ‘योगी भव, पवित्र भव’। वरदान भी है, निजी संस्कार भी है। जीवन में दो चीजें ही आवश्यक हैं। एक – कम्पैनियन, दूसरी – कम्पनी, इसलिए त्रिकालदर्शी बाप सभी की आवश्यकताओं को जान कम्पैनियन भी बढ़िया, कम्पनी भी बढ़िया देते हैं। विशेष डबल विदेशी बच्चों को दोनों चाहिए इसलिए बापदादा ने ब्राह्मण जन्म होते ही कम्पैनियन का अनुभव करा लिया, सुहागिन बना दिया। जन्मते ही कम्पैनियन मिल गया ना? कम्पैनियन मिल गया है वा ढूँढ़ रहे हो? तो पवित्रता निजी संस्कार के रूप में अनुभव करना, इसको कहते हैं श्रेष्ठ लकीर अथवा श्रेष्ठ रेखा वाले। फाउन्डेशन पक्का है ना?

तीसरी लकीर है सच्चे सेवाधारी की। यह सेवाधारी की लकीर भी सभी के मस्तक पर है। सेवा के बिना भी रह नहीं सकते। सेवा ब्राह्मण जीवन को सदा निर्विघ्न बनाने का साधन भी है और फिर सेवा में ही विघ्नों का पेपर भी ज्यादा आता है। निर्विघ्न सेवाधारी को सच्चे सेवाधारी कहा जाता है। विघ्न आना, यह भी ड्रामा की नूँध है। आने ही हैं और आते ही रहेंगे क्योंकि यह विघ्न या पेपर अनुभवी बनाते हैं। इसको विघ्न न समझ, अनुभव की उन्नति हो रही है – इस भाव से देखो तो उन्नति की सीढ़ी अनुभव होगी। इससे और आगे बढ़ना है क्योंकि सेवा अर्थात् संगठन का, सर्व आत्माओं की दुआ का अनुभव करना। सेवा के कार्य में सर्व की दुआयें मिलने का साधन है। इस विधि से, इस वृत्ति से देखो तो सदा ऐसे अनुभव करेंगे कि अनुभव की अथॉरिटी और आगे बढ़ रही है। विघ्न को विघ्न नहीं समझो और विघ्न अर्थ निमित्त बनी हुई आत्मा को विघ्नकारी आत्मा नहीं समझो, अनुभवी बनाने वाले शिक्षक समझो। जब कहते हो निंदा करने वाले मित्र हैं, तो विघ्नों को पास कराके अनुभवी बनाने वाला शिक्षक हुआ ना। पाठ पढ़ाया ना। जैसे आजकल के जो बीमारियों को हटाने वाले डॉक्टर्स हैं, वह एक्सरसाइज़ (व्यायाम) कराते हैं, तो एक्सरसाइज में पहले दर्द होता है, लेकिन वह दर्द सदा के लिए बेदर्द बनाने के निमित्त होता है, जिसको यह समझ नहीं होती है वह चिल्लाते हैं, इसने तो और ही दर्द कर लिया। लेकिन इस दर्द के अन्दर छिपी हुई दवा है। इस प्रकार रूप भल विघ्न का है, आपको विघ्नकारी आत्मा दिखाई पड़ती लेकिन सदा के लिए विघ्नों से पार कराने के निमित्त, अचल बनाने के निमित्त वही बनते इसलिए सदा निर्विघ्न सेवाधारी को कहते हैं सच्चे सेवाधारी। ऐसे श्रेष्ठ लकीर वाले सच्चे सेवाधारी कहे जाते हैं।

सेवा में सदैव स्वच्छ बुद्धि, स्वच्छ वृत्ति और स्वच्छ कर्म सफलता का सहज आधार है। कोई भी सेवा का कार्य जब आरम्भ करते हो तो पहले यह चेक करो कि बुद्धि में किसी आत्मा के प्रति भी स्वच्छता के बजाए अगर बीती हुई बातों की जरा भी स्मृति होगी तो उसी वृत्ति, दृष्टि से उनको देखना, उनसे बोलना होता। तो सेवा में जो स्वच्छता से सम्पूर्ण सफलता होनी चाहिए, वह नहीं होती। बीती हुई बातों को वा वृत्तियों आदि सबको समाप्त करना – यह है स्वच्छता। बीती का संकल्प भी करना कुछ परसेन्टेज में हल्का पाप है। संकल्प भी सृष्टि बना देता है। वर्णन करना तो और बड़ी बात है लेकिन संकल्प करने से भी पुराने संकल्प की स्मृति सृष्टि अथवा वायुमण्डल भी वैसा बना देती है। फिर कह देते – ‘मैंने जो कहा था ना, ऐसे ही हुआ ना’। लेकिन हुआ क्यों? आपके कमजोर, व्यर्थ संकल्प ने यह व्यर्थ वायुमण्डल की सृष्टि बनाई, इसलिए सदा सच्चे सेवाधारी अर्थात् पुराने वायब्रेशन को समाप्त करने वाले। जैसे साइन्स वाले शस्त्र से शस्त्र को खत्म कर देते हैं, एक विमान से दूसरे विमान को गिरा देते हैं। युद्ध करते हैं तो समाप्त कर देते हैं ना। तो आपका शुद्ध वायब्रेशन, शुद्ध वायब्रेशन को इमर्ज कर सकता है और व्यर्थ वायब्रेशन को समाप्त कर सकता है। संकल्प, संकल्प को समाप्त कर सकता है। अगर आपका पावरफुल (शक्तिशाली) संकल्प है तो समर्थ संकल्प व्यर्थ को खत्म जरूर करेगा। समझा? सेवा में पहले स्वच्छता अर्थात् पवित्रता की शक्ति चाहिए। यह तीन लकीरें चमकती हुई देख रहे हैं।

सेवा के विशेषता की और अनेक बातें सुनी भी हैं। सब बातों का सार है – नि:स्वार्थ, निर्विकल्प स्थिति से सेवा करना सफलता का आधार है। इसी सेवा में ही स्वयं भी सन्तुष्ट और हर्षित रहते और दूसरे भी सन्तुष्ट रहते। सेवा के बिना संगठन नहीं होता। संगठन में भिन्न-भिन्न बातें, भिन्न-भिन्न विचार, भिन्न-भिन्न तरीके, साधन – यह होना ही है। लेकिन बातें आते भी, भिन्न-भिन्न साधन सुनते हुए भी स्वयं सदा अनेक को एक बाप की याद में मिलाने वाले, एकरस स्थिति वाले रहो। कभी भी अनेकता में मूँझो नहीं – अब क्या करें, बहुत विचार हो गये हैं, किसका मानें, किसका न मानें? अगर नि:स्वार्थ, निर्विकल्प भाव से निर्णय करेंगे तो कभी किसी को कुछ व्यर्थ संकल्प नहीं आयेगा क्योंकि सेवा के बिना भी रह नहीं सकते, याद के बिना भी रह नहीं सकते इसलिए सेवा को भी बढ़ाते चलो। स्वयं को भी स्नेह, सहयोग और नि:स्वार्थ भाव में बढ़ाते चलो। समझा?

बापदादा को खुशी है कि देश-विदेश में छोटे-बड़े सभी ने उमंग-उत्साह से सेवा का सबूत दिया। विदेश की सेवा का भी सफलतापूर्वक कार्य सम्पन्न हुआ और देश में भी सभी के सहयोग से सर्व कार्य सम्पन्न हुए, सफल हुए। बापदादा बच्चों के सेवा की लग्न को देख हर्षित होते हैं। सभी का लक्ष्य बाप को प्रत्यक्ष करने का अच्छा रहा और बाप के स्नेह में मेहनत को मुहब्बत में बदल कार्य का प्रत्यक्षफल दिखाया। सभी बच्चे विशेष सेवा के निमित्त आये हुए हैं। बापदादा भी ‘वाह बच्चे! वाह!’ के गीत गाते हैं। सभी ने बहुत अच्छा किया। किसी ने किया, किसी ने नहीं किया, यह है नहीं। चाहे छोटे स्थान हैं वा बड़े स्थान हैं, लेकिन छोटे स्थान वालों ने भी कम नहीं किया इसलिए, सर्व की श्रेष्ठ भावनाओं और श्रेष्ठ कामनाओं से कार्य अच्छे रहे और सदा अच्छे रहेंगे। समय भी खूब लगाया, संकल्प भी खूब लगाये, प्लैन बनाया तो संकल्प किया ना। शरीर की शक्ति भी लगाई, धन की शक्ति भी लगाई, संगठन की शक्ति भी लगाई। सर्व शक्तियों की आहुतियों से सेवा का यज्ञ दोनों तरफ (देश और विदेश) सफल हुआ। बहुत अच्छा कार्य रहा। ठीक किया वा नहीं किया – यह क्वेश्चन ही नहीं। सदा ठीक रहा है और सदा ठीक रहेगा। चाहे मल्टी मिलियन पीस का कार्य किया, चाहे गोल्डन जुबली का कार्य किया – दोनों ही कार्य सुन्दर रहे। जिस विधि से किया, वह विधि भी ठीक है। कहाँ-कहाँ चीज़ की वैल्यू बढ़ाने के लिए पर्दे के अन्दर वह चीज़ रखी जाती है। पर्दा और ही वैल्यू को बढ़ा देता है और जिज्ञासा उत्पन्न होती है कि देखें क्या है, पर्दे के अन्दर है तो जरूर कुछ होगा। लेकिन यही पर्दा प्रत्यक्षता का पर्दा बन जायेगा। अभी धरनी बना ली। धरनी में जब बीज डाला जाता है वो अन्दर छिपा हुआ डाला जाता है। बीज को बाहर नहीं रखते, अन्दर छिपाकर रखते हैं। और फल वा वृक्ष गुप्त बीज का ही स्वरूप प्रत्यक्ष होता। तो अब बीज डाला है, वृक्ष बाहर स्टेज पर स्वत: ही आता जायेगा।

खुशी में नाच रहे हो ना? ‘वाह बाबा’! तो कहते हो लेकिन वाह सेवा! भी कहते हो। अच्छा। समाचार तो सब बापदादा ने सुन लिया। इस सेवा से जो देश-विदेश के संगठन से वर्ग की सेवा हुई, यह चारों ओर एक ही समय एक ही आवाज बुलन्द होने या फैलने का साधन अच्छा है। आगे भी जो भी प्रोग्राम करो, लेकिन एक ही समय देश-विदेश में चारों ओर एक ही प्रकार की सेवा कर फिर सेवा का फलस्वरूप मधुबन में संगठित रूप में हो। चारों ओर एक लहर होने कारण सब में उमंग-उत्साह भी होता है और चारों ओर रूहानी रेस होती, (रीस नहीं) कि हम और ज्यादा से ज्यादा सेवा का सबूत दें। तो इस उमंग से चारों ओर नाम बुलन्द हो जाता है इसलिए किसी भी वर्ग का बनाओ लेकिन चारों ओर सारा वर्ष एक ही रूप-रेखा की सेवा की तरफ अटेन्शन हो। तो उन आत्माओं को भी चारों ओर का संगठन देख उमंग आता है, आगे बढ़ने का चांस मिलता है। इस विधि से प्लैन बनाते, बढ़ते चलो। पहले अपनी-अपनी एरिया में उन वर्ग की सेवा कर छोटे-छोटे संगठन के रूप में प्रोग्राम करते रहो और उस संगठन से फिर जो विशेष आत्मायें हों, उनको इस बड़े संगठन के लिए तैयार करो। लेकिन हर सेन्टर या आसपास के मिलकर करो क्योंकि कई यहाँ तक नहीं पहुँच सकते तो वहाँ पर भी संगठन का जो प्रोग्राम होता, उससे भी उन्हों को लाभ होता है। तो पहले छोटे-छोटे ‘स्नेह मिलन’ करो, फिर ज़ोन को मिलाकर संगठन करो, फिर मधुबन का बड़ा संगठन हो। तो पहले से ही अनुभवी बन करके फिर यहाँ तक भी आयेंगे। लेकिन देश-विदेश में एक ही टॉपिक हो और एक ही वर्ग के हों। ऐसे भी टॉपिक्स होते हैं जिसमें दो-चार वर्ग भी मिल सकते हैं। टॉपिक विशाल है तो दो-तीन वर्ग के भी उसी टॉपिक बीच आ सकते हैं। तो अभी देश-विदेश में धर्म सत्ता, राज्य सत्ता और साइन्स की सत्ता – तीनों के सैम्पल्स तैयार करो। अच्छा।

सर्व पवित्रता के वरदान के अधिकारी आत्माओं को, सदा एकरस, निरन्तर योगी जीवन के अनुभवी आत्माओं को, सदा हर संकल्प, हर समय सच्चे सेवाधारी बनने वाली श्रेष्ठ आत्माओं को विश्व-स्नेही, विश्व-सेवाधारी बाप-दादा का यादप्यार और नमस्ते।

वरदान:- कम्बाइन्ड स्वरूप की स्मृति द्वारा अभुल बनने वाले निरन्तर योगी भव
जो बच्चे स्वयं को बाप के साथ कम्बाइन्ड अनुभव करते हैं उन्हें निरन्तर योगी भव का वरदान स्वत: मिल जाता है क्योंकि वो जहाँ भी रहते हैं मिलन मेला होता रहता है। उन्हें कोई कितना भी भुलाने की कोशिश करे लेकिन वे अभुल होते हैं। ऐसे अभुल बच्चे जो बाप को अति प्यारे हैं वही निरन्तर योगी हैं क्योंकि प्यार की निशानी है – स्वत: याद। उनके संकल्प रूपी नाखून को भी माया हिला नहीं सकती।
स्लोगन:- कारण सुनाने के बजाए उसका निवारण करो तो दुआओं के अधिकारी बन जायेंगे।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 6 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 December 2019

06-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हारे पास मनमनाभव और मध्याजीभव के तीक्ष्ण बाण हैं, इन्हीं बाणों से तुम माया पर विजय प्राप्त कर सकते हो”
प्रश्नः- बच्चों को बाप की मदद किस आधार पर मिलती है? बच्चे बाप की शुक्रिया किस रूप से मानते हैं?
उत्तर:- जो बच्चे जितना बाप को प्यार से याद करते उतना बाप की मदद मिलती है। प्यार से बातें करो। अपना कनेक्शन ठीक रखो, श्रीमत पर चलते रहो तो बाप मदद करता रहेगा। बच्चे बाप की शुक्रिया मानते, बाबा आप परमधाम से आकर हमें पतित से पावन बनाते हो, आपसे हमें कितना सुख मिलता है। प्यार में आंसू भी आ जाते हैं।

ओम् शान्ति। बच्चों को सबसे प्रिय हैं माँ और बाप। और माँ-बाप को फिर बच्चे हैं बहुत प्रिय। अब बाप जिसको त्वमेव माताश्च पिता कहते हैं। लौकिक माँ-बाप को तो कोई ऐसे कह न सकें। यह महिमा है जरूर, परन्तु किसकी है-यह कोई जानते नहीं। अगर जाने तो वहाँ चला जाये और बहुतों को ले जाये। परन्तु ड्रामा की भावी ही ऐसी है। जब ड्रामा पूरा होता है तब ही आते हैं। आगे मूवी नाटक होते थे, जब नाटक पूरा होता था तो सभी एक्टर्स स्टेज पर खड़े हो जाते थे। यह भी बेहद का बड़ा नाटक है। यह भी सारा बच्चों की बुद्धि में आना चाहिए-सतयुग, त्रेता, द्वापर, कलियुग। यह सारी सृष्टि का चक्र है। ऐसे नहीं मूलवतन, सूक्ष्मवतन में चक्र फिरता है। सृष्टि का चक्र यहाँ ही फिरता है।

गाया भी जाता है एकोअंकार सतनाम…… यह महिमा किसकी है? भल ग्रंथ में भी सिक्ख लोग महिमा करते हैं। गुरूनानक वाच… अब एकोअंकार यह तो उस एक निराकार परमात्मा की ही महिमा है परन्तु यह लोग परमात्मा की महिमा को भूल गुरूनानक की महिमा करने लगते हैं। सतगुरू भी नानक को समझ लेते हैं। वास्तव में सृष्टि भर में महिमा जो भी है उस एक की ही है और कोई की महिमा है नहीं। अभी देखो ब्रह्मा में अगर बाबा की प्रवेशता नहीं होती तो यह कौड़ी तुल्य है। अभी तुम कौड़ी तुल्य से हीरे तुल्य बनते हो परमपिता परमात्मा द्वारा। अब है पतित दुनिया, ब्रह्मा की रात्रि। पतित दुनिया में जब बाप आते हैं और जो उनको पहचान लेते हैं वह उन पर कुर्बान जाते हैं। आज की दुनिया में तो बच्चे भी धुंधकारी बन पड़ते हैं। देवतायें कितने अच्छे थे, अभी वह पुनर्जन्म लेते-लेते तमोप्रधान बन गये हैं। सन्यासी भी पहले बहुत अच्छे थे, पवित्र थे। भारत को मदद देते थे। भारत में अगर पवित्रता न हो तो काम चिता पर जल जाए। सतयुग में काम कटारी होती नहीं। इस कलियुग में सब काम चिता के कांटों पर बैठे हुए हैं। सतयुग में तो ऐसे नहीं कहेंगे। वहाँ यह प्वाइज़न होता नहीं। कहते हैं ना अमृत छोड़ विष काहे को खाए। विकारी को ही पतित कहा जाता है। आजकल मनुष्य तो देखो 10-12 बच्चे पैदा करते रहते हैं। कोई कायदा ही नहीं रहा है। सतयुग में जब बच्चा पैदा होता है तो पहले से ही साक्षात्कार होता है। शरीर छोड़ने के पहले भी साक्षात्कार होता है कि हम यह शरीर छोड़ जाकर बच्चा बनूँगा। और एक बच्चा ही होता है, जास्ती नहीं। लॉ मुज़ीब चलता है। वृद्धि तो होनी है जरूर। परन्तु वहाँ विकार होता नहीं। बहुत पूछते हैं तब वहाँ पैदाइस कैसे होती है? बोलना चाहिए वहाँ योगबल से सब काम होता है। योगबल से ही हम सृष्टि की राजाई लेते हैं। बाहुबल से सृष्टि की राजाई नहीं मिल सकती है।

बाबा ने समझाया है अगर क्रिश्चियन लोग आपस में मिल जाएं तो सारी सृष्टि का राज्य ले सकते हैं परन्तु आपस में मिलेंगे नहीं, लॉ नहीं कहता, इसलिए दो बिल्ले आपस में लड़ते हैं तो माखन तुम बच्चों को मिल जाता है। कृष्ण के मुख में माखन दिखाया है। यह सृष्टि रूपी माखन है।

बेहद का बाप कहते हैं यह योगबल की लड़ाई शास्त्रों में गाई हुई है, बाहुबल की नहीं। उन्हों ने फिर हिंसक लड़ाई शास्त्रों में दिखा दी है। उनसे अपना कोई सम्बन्ध नहीं है। पाण्डवों कौरवों की लड़ाई है नहीं। यह अनेक धर्म 5 हजार वर्ष पहले भी थे, जो आपस में लड़कर विनाश हुए। पाण्डवों ने देवी-देवता धर्म की स्थापना की। यह है योगबल, जिससे सृष्टि का राज्य मिलता है। मायाजीत-जगतजीत बनते हैं। सतयुग में माया रावण होता नहीं। वहाँ थोड़ेही रावण का बुत बनाकर जलायेंगे। बुत (चित्र) कैसे-कैसे बनाते हैं। ऐसा कोई दैत्य वा असुर होता नहीं। यह भी नहीं समझते 5 विकार स्त्री के हैं और 5 विकार पुरूष के हैं। उनको मिलाकर 10 शीश वाला रावण बना देते हैं। जैसे विष्णु को भी 4 भुजायें देते हैं। मनुष्य तो यह कॉमन बात भी समझते नहीं हैं। बड़ा रावण बनाकर जलाते हैं। मोस्ट बिलवेड बच्चों को अभी बेहद का बाप समझाते हैं। बाप को बच्चे हमेशा नम्बरवार प्यारे होते हैं। कोई तो मोस्ट बिलवेड भी हैं तो कोई कम प्यारे भी हैं। जितना सिकीलधा बच्चा होगा उतना जास्ती लव होगा। यहाँ भी जो सर्विस पर तत्पर रहते हैं, रहमदिल रहते हैं, वह प्यारे लगते हैं। भक्ति मार्ग में रहम मांगते हैं ना! खुदा रहम करो। मर्सी ऑन मी। परन्तु ड्रामा को कोई जानते नहीं हैं। जब बहुत तमोप्रधान बन जाते हैं तब ही बाबा का प्रोग्राम है आने का। ऐसे नहीं, ईश्वर जो चाहे कर सकते हैं या जब चाहे तब आ सकते हैं। अगर ऐसी शक्ति होती तो फिर इतनी गाली क्यों मिले? वनवास क्यों मिलें? यह बातें बड़ी गुप्त हैं। कृष्ण को तो गाली मिल न सके। कहते हैं भगवान यह नहीं कर सकता! परन्तु विनाश तो होना ही है फिर बचाने की तो बात ही नहीं। सभी को वापिस ले जाना है। स्थापना-विनाश कराते हैं तो जरूर भगवान होगा ना। परमपिता परमात्मा स्थापना करते हैं, किसकी? मुख्य बात तुम पूछो ही यह कि गीता का भगवान कौन? सारी दुनिया इसमें मूँझी हुई है। उन्होंने तो मनुष्य का नाम डाल दिया है। आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना तो भगवान बिगर कोई कर नहीं सकता। फिर तुम कैसे कहते हो कृष्ण गीता का भगवान है। विनाश और स्थापना कराना किसका काम है? गीता के भगवान को भूल गीता को ही खण्डन कर दिया है। यह बड़े ते बड़ी भूल है। दूसरा फिर जगन्नाथपुरी में देवताओं के बड़े गन्दे चित्र बनाये हैं। गवर्मेन्ट की मना है गन्दे चित्र रखने की। तो इस पर समझाना चाहिए। इन मन्दिरों पर कोई की बुद्धि में यह बातें आती नहीं हैं। यह बातें बाप ही बैठ समझाते हैं।

देखो, बच्चियां कितना प्रतिज्ञा पत्र भी लिखती हैं। खून से भी लिखती। एक कथा भी है ना कृष्ण को खून निकला तो द्रोपदी ने अपना चीर फाडकर बांध दिया। यह लव है ना। तुम्हारा लव है शिवबाबा के साथ। इनका (ब्रह्मा का) खून निकल सकता है, इनको दु:ख हो सकता है लेकिन शिवबाबा को कभी दु:ख नहीं हो सकता क्योंकि उनको अपना शरीर तो है नहीं। कृष्ण को अगर कुछ लगे तो दु:ख होगा ना। तो उनको फिर परमात्मा कैसे कह सकते। बाबा कहते मैं तो दु:ख-सुख से न्यारा हूँ। हाँ, बच्चों को आकर सदा सुखी बनाता हूँ। सदा शिव गाया जाता है। सदा शिव, सुख देने वाला कहते हैं – मेरे मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चे जो सपूत हैं, ज्ञान धारण कर पवित्र रहते हैं, सच्चे योगी और ज्ञानी रहते हैं, वह मुझे प्यारे लगते हैं। लौकिक बाप के पास भी कोई अच्छे, कोई बुरे बच्चे होते हैं। कोई कुल को कलंक लगाने वाले निकल पड़ते हैं। बहुत गन्दे बन जाते हैं। यहाँ भी ऐसे हैं। आश्चर्यवत् बच्चा बनन्ती, सुनन्ती, कथन्ती फिर फारकती देवन्ती… इसलिए ही निश्चय पत्र लिखवाया जाता है। तो वह लिखत फिर सामने दी जायेगी। ब्लड से भी लिखकर देते हैं। ब्लड से लिखकर प्रतिज्ञा करते हैं। आजकल तो कसम भी उठवाते हैं। परन्तु वह है झूठा कसम। ईश्वर को हाज़िर-नाज़िर जानना अर्थात् यह भी ईश्वर है, मैं भी ईश्वर कसम उठाता हूँ। बाप कहते हैं अभी तुम प्रैक्टिकल में हाज़िर नाज़िर जानते हो। बाबा इन आंखों रूपी खिड़कियों से देखते हैं। यह पराया शरीर है। लोन पर लिया है। बाबा किरायेदार है। मकान को काम में लाया जाता है ना। तो बाबा कहते हैं मैं यह तन काम में लाता हूँ। बाबा इन खिड़कियों से देखते हैं। हाज़िर-नाज़िर है। आत्मा जरूर आरगन्स से ही काम लेगी ना। मैं आया हूँ तो जरूर सुनाऊंगा ना। आरगन्स यूज़ करते हैं तो जरूर किराया भी देना पड़ेगा।

तुम बच्चे इस समय नर्क को स्वर्ग बनाने वाले हो। तुम रोशनी देने वाले, जागृत करने वाले हो। और तो सब कुम्भकरण की नींद में सोये पड़े हैं। तुम मातायें जगाती हो, स्वर्ग का मालिक बनाती हो। इसमें मैजारिटी माताओं की है, इसलिए वन्दे मातरम् कहा जाता है। भीष्म पितामह आदि को भी तुमने ही बाण मारे हैं। मनमनाभव-मध्याजीभव का बाण कितना सहज है। इन्हीं बाणों से तुम माया पर भी जीत पा लेते हो। तुम्हें एक बाप की याद, एक की श्रीमत पर ही चलना है। बाप तुम्हें ऐसे श्रेष्ठ कर्म सिखलाते हैं, जो 21 जन्म कभी कर्म कूटने की दरकार ही न पड़े। तुम एवरहेल्दी-एवरवेल्दी बनते हो। अनेक बार तुम स्वर्ग के मालिक बने हो। राज्य लिया और फिर गँवाया है। तुम ब्राह्मण कुल भूषण ही हीरो-हीरोइन का पार्ट बजाते हो। ड्रामा में सबसे ऊंच पार्ट तुम बच्चों का है। तो ऐसे ऊंच बनाने वाले बाप के साथ बहुत लव चाहिए। बाबा आप कमाल करते हो। न मन, न चित, हमको थोड़ेही पता है, हम सो नारायण थे। बाबा कहते हैं तुम सो नारायण अथवा सो लक्ष्मी देवी-देवता थे फिर पुनर्जन्म लेते-लेते असुर बन गये हो। अभी फिर पुरूषार्थ कर वर्सा पाओ। जितना जो पुरूषार्थ करते हैं, साक्षात्कार होता रहता है।

राजयोग एक बाप ने ही सिखलाया था। सच्चा-सच्चा सहज राजयोग तो तुम अभी सिखला सकते हो। तुम्हारा फर्ज़ है बाप का परिचय सबको देना। सभी निधनके बन पड़े हैं। यह बातें भी कल्प पहले वाले कोटों में कोई ही समझेंगे। बाबा ने समझाया है, सारी दुनिया में महान् मूर्ख देखना हो तो यहाँ देखो। बाप जिनसे 21 जन्म का वर्सा मिलता, उनको भी फारकती दे देते हैं। यह भी ड्रामा में नूँध है। अभी तुम स्वयं ईश्वर की औलाद हो। फिर देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शुद्र की औलाद बनेंगे। अभी आसुरी औलाद से ईश्वरीय सन्तान बने हो। बाप परमधाम से आकर पतित से पावन बनाते हैं तो कितना शुक्रिया मानना चाहिए। भक्ति मार्ग में भी शुक्रिया करते रहते हैं। दु:ख में थोड़ेही शुक्रिया मानेंगे। अभी तुमको कितना सुख मिलता है तो बहुत लव होना चाहिए। हम बाप से प्यार से बातें करेंगे तो क्यों नहीं सुनेंगे। कनेक्शन है ना। रात को उठकर बाबा से बातें करनी चाहिए। बाबा अपना अनुभव बतलाते रहते हैं। मैं बहुत याद करता हूँ। बाबा की याद में आंसू भी आ जाते हैं। हम क्या थे, बाबा ने क्या बना दिया है – तत्त्वम्। तुम भी वह बनते हो। योग में रहने वालों को बाबा मदद भी देते हैं। आपेही आंख खुल जायेगी। खटिया हिल जाएगी। बाबा बहुतों को उठाते हैं। बेहद का बाप कितना रहम करते हैं। तुम यहाँ क्यों आये हो? कहते हो बाबा भविष्य में श्री नारायण को वरने की शिक्षा पाने आये हैं अथवा लक्ष्मी को वरने लिए यह इम्तहान पास कर रहे हो। कितना वन्डरफुल स्कूल है। कितनी वन्डरफुल बातें हैं। बड़े ते बड़ी युनिवर्सिटी है। परन्तु गॉडली युनिवर्सिटी नाम रखने नहीं देते हैं। एक दिन जरूर मानेंगे। आते रहेंगे। कहेंगे बरोबर कितनी बड़ी युनिवर्सिटी है। बाबा तो अपने नयनों पर बिठाकर तुमको पढ़ाते हैं। कहते हैं तुमको स्वर्ग में पहुँचा देंगे। तो ऐसे बाबा से कितनी बातें करनी चाहिए। फिर बाबा बहुत मदद करेंगे। जिनके गले घुटे हुए हैं, उनका ताला खोल देंगे। रात को याद करने से बहुत मज़ा आयेगा। बाबा अपना अनुभव बतलाते हैं। मैं कैसी बातें करता हूँ, अमृतवेले।

बाप बच्चों को समझाते हैं खबरदार रहना। कुल को कलंकित नहीं करना। 5 विकार दान में दे फिर वापिस नहीं लेना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप का प्रिय बनने के लिए रहमदिल बन सर्विस पर तत्पर रहना है। सपूत, आज्ञाकारी बन सच्चा योगी वा ज्ञानी बनना है।

2) अमृतवेले उठ बाप से बहुत मीठी-मीठी बातें करना है, बाप का शुक्रिया मानना है। बाप की मदद का अनुभव करने के लिए मोस्ट बिलवेड बाप को बड़े प्यार से याद करना है।

वरदान:- पुरानी देह वा दुनिया की सर्व आकर्षणों से सहज और सदा दूर रहने वाले राजऋषि भव
राजऋषि अर्थात् एक तरफ सर्व प्राप्ति के अधिकार का नशा और दूसरे तरफ बेहद के वैराग्य का अलौकिक नशा। वर्तमान समय इन दोनों अभ्यास को बढ़ाते चलो। वैराग्य माना किनारा नहीं लेकिन सर्व प्राप्ति होते भी हद की आकर्षण मन बुद्धि को आकर्षण में नहीं लाये। संकल्प मात्र भी अधीनता न हो इसको कहते हैं राजऋषि अर्थात् बेहद के वैरागी। यह पुरानी देह वा देह की पुरानी दुनिया, व्यक्त भाव, वैभवों का भाव इन सब आकर्षणों से सदा और सहज दूर रहने वाले।
स्लोगन:- साइंस के साधनों को यूज़ करो लेकिन अपने जीवन का आधार नहीं बनाओ।

TODAY MURLI 6 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 6 December 2019

06/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have the very sharp arrows of “Manmanabhav” and “Madhyajibhav”. You are able to conquer Maya with these arrows.
Question: On what basis do you children receive the Father’s help? In what way should you children thank the Father?
Answer: To the extent that you children remember the Father with love, so you receive help from the Father. Talk to Him with love, keep your connection with Him accurate and continue to follow shrimat and the Father will continue to help you. You children should thank the Father and say: Baba, You come from the supreme abode and change us from impure to pure. We receive so much happiness from You. Out of our love for you we even shed tears.

Om shanti. Out of everyone, one’s mother and father are the most loved, and a mother and father have a lot of love for their children. The Father is the One to whom people say “You are the Mother and Father”. No one says this to a lokik mother or father. There is definitely this praise, but no one knows to whom it belongs. If people were to know this, they would go there and take many others there too. However, the drama is destined in this way. Baba only comes when the drama is coming to an end. Previously, there were only live plays, “talkies“. When a play is over, all the actors come onto the stage. This drama is also an unlimited, huge play. Everything of the golden age, the silver age and the copper age, all of the cycle of the whole world, should be in the intellects of you children. It is not that the cycle turns in the supreme region or the subtle region; the world cycle turns here, in this world. It is remembered that the incorporeal One is also called the Truth. Whose praise is this? Sikh people sing this praise from the Granth. Guru Nanak spoke this praise. However, “Ek omkar” is the praise of only the incorporeal Supreme Soul, but those people forgot that it was the Supreme Soul’s praise and began to praise Guru Nanak. They also believe that Nanak was the Satguru. In fact, all the praise of the whole world belongs to the One alone. No one else should be praised. Just look! If Baba were not to enter Brahma, Brahma would be as worthless as a shell. From shells you are now, becoming worth diamonds through the Supreme Father, the Supreme Soul. The world is now impure; it is the night of Brahma. When the Father comes into the impure world and souls recognise Him, they surrender themselves to Him. Nowadays, even children are very troublesome. The deities were very good. By taking rebirth, they gradually became tamopradhan. Sannyasis too used to be very good. They used to help Bharat with their purity. If there had been no purity in Bharat, it would have burnt away on the pyre of lust. There is no sword of lust in the golden age. Everyone in this iron age is sitting on the thorns of the pyre of lust. This wouldn’t be said of the golden age. This poison doesn’t exist there. It is said: “Why should you give up nectar and drink poison instead?” People who indulge in vice are called impure. Nowadays, people give birth to 10 or even 12 children; there is no control. In the golden age, when a baby is to be born, they have a vision of the child in advance. Whilst a soul is still in his old body, he has a vision of the baby he is going to become after leaving his body. A couple only have one son, no more; according to the law there. The population definitely grows, but there is no vice there. Many people ask you how children will be born there. You should tell them that everything happens there with the power of yoga. You attain the kingdom of the world with the power of yoga. You cannot attain the kingdom of the world with physical power. Baba has said that if the Christians were to unite, they could govern the whole world. However, the law doesn’t allow them to unite. When those two cats fight one another, you children receive the butter. Krishna is shown with butter in his mouth. The butter they show represents the kingdom of the world. The unlimited Father says that it is the battle with the power of yoga that has been remembered in the scriptures; it is not physical power. Wars of physical violence are spoken of in the scriptures. You have no connection with that. There isn’t a war between the Pandavas and the Kauravas. All of those many religions existed 5000 years ago as well. All of those religions fought one another and destroyed themselves. You Pandavas established the deity religion. It was through this power of yoga that you attained the kingdom of the world. You are now becoming conquerors of Maya and conquerors of the world. Maya, Ravan, does not exist in the golden age. You will not make any effigies of Ravan there and burn them. All sorts of images are made now. There can be no such demons or devils. They do not even understand that both men and women have five vices. They put them together and make an effigy of Ravan with ten heads. They also portray Vishnu with four arms; people do not understand this common aspect. They make a huge effigy of Ravan and burn that. The unlimited Father is explaining these things to you most beloved children. A father always loves his children, numberwise. Some are most beloved and some are less loved. The dearer a child is to someone, the more loved he would be. Here, too, those who are present on service and are merciful are loved. People on the path of devotion ask for mercy. They say: God, please have mercy on me! However, no one knows the drama. Baba’s programme is fixed for Him to come when they have become totally impure. It is not that God can do whatever He wants or that He can come whenever He wants. If He had such power, why has He been defamed so much? And, why was He sent into exile? (Story of Rama in the Ramayana). These are very incognito matters. Krishna cannot be defamed. It is said: God wouldn’t do those things. However, destruction definitely has to take place so it is not a question of saving anyone. Everyone has to be taken back home. Establishment and destruction are inspired and so there must definitely be God, must there not? The Supreme Father, the Supreme Soul, carries out establishment. Of what? You should ask people the main question: “Who is the God of the Gita”? The whole world is confused about this. They have put a human being’s name in the scripture. No one but God can establish the original eternal deity religion. So, how can they say that Krishna is the God of the Gita? Who has the task of destruction and establishment? By forgetting who the God of the Gita is, they have ruined the Gita. This is their greatest mistake. Then, secondly, at Jagadnathpuri, they have made statues of the deities portrayed in very dirty postures. The Government has forbidden the keeping of dirty pictures. Therefore, you should explain this to them. These things about the temples do not enter anyone’s intellect. Only the Father sits here and explains these things. Look how you children write a letter with your promise! Some of you write it in blood. There is a story of how Draupadi tore off a piece of her sari and bandaged Krishna’s bleeding wound. That is a symbol of her love. Your love is for Shiv Baba. This one, Brahma, can bleed. He can feel pain, but Shiv Baba cannot feel pain, because He doesn’t have a body of His own. If Krishna had been wounded, he would have felt pain and so how could you call him God? Baba says: I am beyond happiness and sorrow. Yes, I do come and make you children constantly happy. It is said that Shiva is constant. They say that Shiva is the One who gives constant happiness. I love my sweetest, long-lost and now-found, worthy children who imbibe knowledge and remain pure, those who remain truly enlightened and yogi. A physical father would also have some good children and some bad children. Some turn out to be very bad and thereby defame their family name; they become very dirty. The same thing happens here. They become amazed, they come here and belong to Baba, they listen to knowledge, they give knowledge to others and then they divorce Baba! This is why you are asked to write a letter of your faith. This letter will then be presented to you. Some of you even write it with your blood; you make a promise, writing it in blood. Nowadays, people are made to take an oath, but that is a false oath. To believe that God is present everywhere means to take an oath with the consciousness, “I am God and you are God”. The Father says: You now understand how the Father can be present everywhere in a practical way. Baba sees through the windows of these eyes. This is a foreign body taken on loan. Baba is the Tenant making use of this house. Similarly, Baba says: I make use of this body. Baba looks at you through these windows. He is present here and looking at you. A soul would definitely have to work through his organs. I have entered this one and so I would definitely speak. I would certainly have to pay rent for the use of these organs. You children are now changing hell into heaven. You are the ones who have to awaken everyone; you are those who give everyone light. Everyone else is sleeping in the sleep of Kumbhakarna. You mothers awaken them; you make them into the masters of heaven. The majority of you here is of mothers. This is why it is said: “Salutations to the mothers”. You are the ones who shot the arrows at Bhishampitamai etc. The arrows of “Manmanabhav” and “Madhyajibhav” are very easy to shoot. It is with these arrows that you become able to conquer Maya. You have to remember the one Father and follow the shrimat of that One. The Father teaches you such elevated karma that you will not have to repent for your actions for 21 births. You are becoming everhealthy and everwealthy. You have become the masters of the world many times. You attained your kingdom and then lost it again. You jewels of the Brahmin clan play the parts of hero and heroine. You children play the most elevated partsin the drama. Therefore, you should have a lot of love for the Father who makes you so elevated. Baba, You perform such a miracle! I never had the slightest thought that I was Narayan. Baba says: You children were like Lakshmi and Narayan and deities. Then, whilst taking rebirth, you changed into devils. Now make effort and claim your inheritance. It is said, “The more effort one makes, the more visions one receives”. Only the one Father taught you this Raj Yoga. You can now teach this true and easy Raj Yoga to others. Your duty is to give everyone the Father’s introduction. Everyone is now orphaned. Out of multimillions, only the few who understood these things in the previous cycle will understand. Baba has said that if you want to see the greatest fools in the world, you can see them here. They are those who divorce the Father, the One who would have given them the inheritance for 21 births. This is fixed in the drama. You are now children of God Himself. Then, you will take birth as children of the deities, the warriors, the merchants and the shudras. You have now changed from the devil’s children into God’s children. The Father comes from the supreme abode to change you from impure to pure; so how much you should thank Him! People on the path of devotion also thank Him so much! They wouldn’t thank Him when they are unhappy. You are now being given so much happiness. Therefore, you should love Him so much. If you make a connection with the Father and speak to him with love, why would He not listen? You should wake up during the night and talk to Baba. This Baba continues to share his experiences: I remember Baba a great deal. There are even tears of love whilst in remembrance of Baba. What was I and what has Baba made me? The same applies to you too! You are now becoming like that. Baba also helps those who stay in yoga. Your eyes will open automatically. Your bed will shake. Baba wakes many up in this way. The unlimited Father has so much mercy. When Baba asks you why you have come here, you reply: “Baba, I have come to be taught how to become worthy of marrying Shri Narayan in the future.” Or, “I have to pass this examination to be able to marry Lakshmi.” This is such a wonderful school! These are such wonderful matters! This is the greatest university. However, the Government doesn’t allow you to use the name “Godly University“. One day, they will definitely accept this. People will continue to come. They will say that this certainly is a very big university. Baba sits you in His eyes and teaches you. He says that He will take you to heaven. So, if you talk like this to Baba a lot, Baba will give you a lot of help. He will open the locks on those whose throats are choking. By having remembrance at night, you will experience a lot of pleasure. Baba tells you his experience and tells you how he talks to Baba in the morning hours of nectar. The Father says to you children: Be cautious! Do not defame the name of this clan. Do not take back the five vices you have donated to Him. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to be loved by the Father, be merciful and remain present on service. Be worthy and obedient and thus become a true gyani and yogi soul.
  2. Wake up early in the morning hours of nectar and have a sweet conversation with the Father. You must give thanks to the Father. In order to experience the Father’s help, remember the most beloved Father with a lot of love.
Blessing: May you be a Raj Rishi who easily and constantly stays away from all the attractions of old bodies and the old world.
A Raj Rishi means one who, on the one hand, has the intoxication of the right to all attainments and, on the other hand has spiritual intoxication of unlimited disinterest. You now have to continue to increase the practice of both these things. Disinterest does not mean to step away, but while having all attainments, do not let any limited attractions attract your mind or intellect. Let there not be the slightest dependency even in your thoughts. This is known as being a Raj Rishi, that is, one who has unlimited disinterest. It means being one who is constantly and easily far away from all the attractions of old bodies, the physical old world, gross feelings, and feelings for material comforts.
Slogan: Use the facilities of science, but do not make them the support of your life.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 6 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 6 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 5 December 2018 :- Click Here

06/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to create your fortune, engage yourselves in God’s service. Mothers and kumaris should be eager to surrender themselves to the Father. The Shiv Shaktis can glorify the Father’s name.
Question: What good advice does the Father give all the kumaris?
Answer: O kumaris: You should now show wonders. You have to become like Mama. Now let go of the opinions of society and become conquerors of attachment. If you become a half-kumari, there would be a flaw in you. You have to remain safe from colourful Maya. Do God’s service and thousands will come and bow down at your feet.

Om shanti. You are the Shiv Shaktis who have a lot of enthusiasm. You should be eager to surrender yourselves to the Father. This is known as Godly intoxication. The Father has to look to see who is sitting here in front of Him. In fact, the seating arrangement in class should be such that the teacher is able to see everyone. This then becomes like a satsang. However, what can one do if the destiny of the drama is fixed in this way. You cannot be made to sit numberwise in class. Children are eager to see the Father’s face. In the same way, the Father is also eager. It is as though there is darkness in a home without children. You children bring light into the home. You bring light into the whole world, not just into Bharat.

Song: Mother, o mother, you are the bestower of fortune for all!

Om shanti. This song is also a scripture for you. The Gita is the jewel of all scriptures. All the scriptures including the Mahabharata, Ramayana, Shiva Purana, Vedas, Upanishads etc. have emerged from this. It is a wonder ! People say that you play songs from films and that you don’t have any scriptures. We say that whatever meaning is extracted from these records, the essence of the Vedas and the Granth etc. also emerges from them. (The song was played). This is Mama’s praise. There are many mothers, but the main one is Jagadamba. This Jagadamba opens the gate to heaven. Then she herself first becomes the master of the world, and you children are also definitely with the mother. There is the praise of that One: You are the Mother and Father. It is Shiv Baba who is called the Mother and Father. In Bharat, there is Jagadamba and Jagadpita. However, Brahma is not mentioned as much, nor are there as many temples to him. There is a temple to Brahma in Ajmer, which is very well known. Brahmin priests also live there. There are two types of brahmin: Sarasidh and Pushkarni. Those who live in Pushkar are called Pushkarni. However, those brahmins do not know this. They say that they are the mouth-born progeny of Brahma. The name “Jagadamba” is very well known. People do not know as much about Brahma. If someone receives a lot of wealth, he believes that he has the blessings of the sages and saints. He does not consider that to be a blessing from God. The Father says: No one, apart from Me, can give blessings. I even praise the sannyasis. If those sannyasis did not remain pure, Bharat would have burnt to death. However, the Bestower of Salvation is only the one Father. Human beings cannot grant salvation to human beings. Baba has explained that all of you are the Sitas in the cottage of sorrow. There is pain experienced in sorrow. Why would there not be an experience of sorrow when you have an illness? If you fall ill, you would definitely wonder: When will I get better? It is not that you want to remain ill all the time; you make effort to get better. Otherwise, why would you take medicine etc? Now, the Father says: I liberate you from this illness and sorrow etc. and give you the prize. Maya, Ravan has caused you sorrow. I am called the Creator of the world. Everyone asks: Did God create this world to cause sorrow? However, they would not say that in heaven. There is sorrow here and this is why people ask: Why would God want to create a world of sorrow? Did He not have anything else to do? However, the Father says: This play of happiness and sorrow, victory and defeat has been created. The play of Rama and Ravan is based on Bharat. Bharat is defeated by Ravan and it then becomes victorious over Ravan and belongs to Rama. Shiv Baba is called Rama. You have to mention the names of Rama and Shiva in order to explain. Shiv Baba is the Master, that is, He is the Lord of the children. He makes you into the masters of heaven. The inheritance of the Father is the attainment of heaven and there is status within that. Only deities reside in heaven. Achcha, now listen to the praise of the One who creates heaven. (Line from the song) Jagadamba is the bestower of fortune for Bharat. No one knows her. Many people go to the Ambaji Temple. This Baba has also been there many times. He must have gone to the Babulnath and Lakshmi and Narayan Temples many times, but he did not know anything. He was so senseless! Now I have made him so sensible. The title of Jagadamba is so great: The bestower of fortune for Bharat. You should now go to the Ambaji Temple and do service. You should relate the story of Jagadamba’s 84 births. In fact, there are many temples. No one would accept this picture of Mama. Achcha, explain using the image of that Amba and take this song with you. This song is the true Gita for you. There is a lot of service to do but the children who do service have to have honesty. You can take this song to the Jagadamba Temple and explain to them. Jagadamba is also a kumari, a Brahmin. Why has Jagadamba been portrayed with so many arms? Because she has many children who are helpers. This is the Shakti Army. Therefore, they have portrayed her image with many arms. Look at the types of bodies that they show! To show arms as a symbol is easy and it seems right. What would the form be like if they were to show as many legs? Brahma too has been shown with many arms. All of you are his children. Not all of those arms could be shown. Therefore, you kumaris and mothers should become engaged in service. You should create your own fortune. If you go to the Amba Temple and praise this song, so many would go there. You would glorify Baba’s name to such an extent that not even the older Brahma Kumaris could glorify it as much. You little kumaris can perform wonders. Baba is not saying this to just one, but to all the kumaris. Thousands will come and fall at your feet. Not as many would fall at their feet as would fall at your feet. You have to let go of the opinions of society for this. You have to destroy all attachment completely. Some would say: I don’t want to get married at all. I will remain pure and do the service of making Bharat into heaven. Half-kumaris would still have a flaw. As soon as a kumari gets engaged, flaws would start to develop in her. She would be coloured by colourful Maya. Human beings can become whatever they want in this birth. Mama also became as she is in this birth. Those people receive a temporary status, whereas Mama receives a status for 21 births. You too are becoming Narayan from an ordinary man and Lakshmi from an ordinary woman. When you pass fully, you will take a divine birth. They experience temporary happiness, but they also have so many worries in that. We are incognito. We do not have to show anything externally. Those people have external show. That kingdom is like a mirage. It says in the scriptures that Draupadi told someone: The child of a blind person is blind. What you consider to be a kingdom at this time is about to be destroyed. Rivers of blood will flow. When there was partition, there was so much fighting in every home in Pakistan. Now, there will be a lot of fighting even while walking on the streets. So much blood flows everywhere. Can this be called heaven? Is this New Delhi and New Bharat? New Bharat was the land of angels. At this time, the vices are seen everywhere; they are your greatest enemy. The births of Rama and Ravan are only shown in Bharat. The birth of Shiva is not celebrated in foreign lands. It is only celebrated here. You know when Ravan comes. Ravan comes when the day ends and the night begins and that is called the path of sin. It is shown what state the deities reached when they went on to the path of sin. You children should do service. Those who have awakened will awaken others. Baba always has good wishes. He is concerned that Maya doesn’t slap the children. You will not be able to do service if you fall ill. It is Jagadamba, not Lakshmi, who receives the urn of knowledge. Lakshmi was given wealth, which she could donate. However, there are no donations etc. there. Donations are always given to the poor. So, if the kumaris go to the temples and do service in this way, many would come. People would say: “Well done!” to you and fall at your feet. They also have regard for the mothers. When the mothers hear this, they become cheerful. Men have their own intoxication. Baba has explained: This corporeal one is the one who knows the external things. The Lord who resides in him is the Lord of Lords. Krishna is called Lord Krishna. We say that Krishna’s Lord of Lord s is the Supreme Soul. He has been given this building (Brahma). Therefore, this one is both the landlady and the landlord. This one is male as well as female. It is a wonder! Bhog is being offered. Achcha, give everyone’s love and remembrance to Baba. Greetings and salutations are sent with great happiness to the Great Master. This is a system. Just as in the beginning, you used to have visions, so Baba will entertain you in the same way a great deal at the end too. Many children will come to Abu. Those who are here will see what takes place. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night Class: 08/04/68

This is a Godly mission. Those who belonged to the deity religion will come. Christians have a mission to convert others to Christianity. Those who become Christians receive happiness in the Christian dynasty. They receive good money. That is why many convert to Christianity. The people of Bharat cannot give as much money. There is a lot of corruption here. If some people don’t take bribes in their jobs, they are sacked. Children ask the Father what they should do in those conditions. Baba says: Do your work tactfully and put it to good use. Here, everyone calls out to the Father: O come and make us impure ones pure! Liberate us and take us home. The Father will surely take you back home. People do so much devotion in order to go home. It is only when the Father comes that He can take everyone back. There is only the one God. It is not that God will come and speak through everyone. He only comes at the confluence age. You no longer believe those things. Previously, you used to. Now you don’t do devotion. You say: Previously, we used to perform worship. The Father has now come in order to make us into worthy-of-worship deities. You should also explain to the Sikhs. There is the praise that it didn’t take God long to change humans into deities. This praise is of the deities. Deities reside in the golden age. It is now the iron age. The Father gives teachings at the confluence age about how to become elevated human beings. Deities are the highest of all. That is why they are worshipped so much. Those who are worshipped definitely did exist at some time but do not exist now. They understand that that kingdom has now passed. You are now incognito. No one knows that you are going to become the masters of the world. You understand that you are studying and will become that. You have to pay full attention to studying. You have to remember the Father with a lot of love. Baba is making us into the masters of the world, and so why would we not remember Him? However, you also need divine virtues. Achcha.

To the spiritual children, love, remembrance, good night and namaste from the spiritual Father, Bap and Dada.

Essence for dharna:

  1. Do not make any external show in this world. In order to pass completely, continue to make incognito effort.
  2. Do not get trapped in this colourful world. Become conquerors of attachment and do the service of glorifying the Father’s name. Awaken everyone’s fortune.
Blessing: May you be in a state of happiness and have the fortune of happiness by constantly eating and giving others the nourishment of happiness.
You children have true, imperishable wealth and so you are the wealthiest of all. Even if you only eat dry chappatis, those dry chappatis are filled with the nourishment of happiness. Nothing more is needed. You are the ones who eat the best nourishment, the chappatis of happiness and so you are constantly in a state of happiness. Therefore, constantly stay in this state of happiness so that others who see you also become happy and only then will you be said to be souls who have the fortune of happiness.
Slogan: k nowledge-full person is someone who does not waste a single thought or word.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 6 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 December 2018

To Read Murli 5 December 2018 :- Click Here
06-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – अपना सौभाग्य बनाना है तो ईश्वरीय सेवा में लग जाओ, माताओं-कन्याओं को बाप पर कुर्बान जाने की उछल आनी चाहिए, शिव शक्तियाँ बाप का नाम बाला कर सकती हैं”
प्रश्नः- सभी कन्याओं को बाप कौन-सी शुभ राय देते हैं?
उत्तर:- हे कन्यायें – तुम अब कमाल करके दिखाओ। तुम्हें मम्मा के समान बनना है। अब तुम लोक-लाज छोड़ो। नष्टोमोहा बनो। अगर अधर कन्या बनी तो दाग़ लग जायेगा। तुम्हें रंग-बिरंगी माया से बचकर रहना है। तुम ईश्वरीय सेवा करो तो हज़ारों आकर तुम्हारे चरणों पर पड़ेंगे।

ओम् शान्ति। तुम शिव शक्तियां हो उछल मारने वाली। बाप के ऊपर कुर्बान जाने की उछल आनी चाहिए। इसको ही कहा जाता है मौलाई मस्ती। बाप को सामने देखना होता है कि कौन-कौन बैठे हैं। वास्तव में क्लास की बैठक ऐसी होनी चाहिए जो टीचर की हरेक के ऊपर नज़र पड़े। यह जैसे सतसंग हो जाता है। परन्तु क्या करें ड्रामा की भावी ऐसी है। क्लास में नम्बरवार बिठा नहीं सकते। बच्चे मुखड़ा देखने के प्यासे होते हैं ना, वैसे बाप भी प्यासे रहते हैं। बच्चों के सिवाए घर में अन्धियारा समझते हैं। तुम बच्चे सोझरा करने वाले हो। भारत में तो क्या सारी दुनिया में सोझरा करने वाले हो।

गीत:- माता ओ माता तू है सबकी भाग्य विधाता…..

ओम् शान्ति। यह गीत भी तुम्हारे शास्त्र हैं। सर्व शास्त्रमई शिरोमणी गीता है और सभी शास्त्र महाभारत, रामायण, शिवपुराण, वेद, उपनिषद आदि इसमें से ही निकले हैं। वन्डर है ना। मनुष्य कहते हैं नाटक के रिकार्ड बजाते हैं। शास्त्र तो कोई इनके पास हैं नहीं। हम कहते हैं इन रिकॉर्ड से जो अर्थ निकलता है, उनसे सब वेद ग्रंथ आदि का सार निकल आता है। (गीत बजा) यह है मम्मा की महिमा। मातायें तो ढेर हैं। परन्तु मुख्य है जगत अम्बा। यही जगदम्बा स्वर्ग का द्वार खोलती है। फिर पहले वह खुद ही जगत का मालिक बनती है तो जरूर माँ के साथ तुम बच्चे भी हो। उनका ही गायन है तुम मात-पिता…। शिवबाबा को ही मात-पिता कहा जाता है। भारत में जगदम्बा भी है और जगतपिता भी है। परन्तु ब्रह्मा का इतना नाम वा मन्दिर आदि नहीं है। सिर्फ अजमेर में ब्रह्मा का मन्दिर नामीग्रामी है, वहाँ ब्राह्मण भी रहते हैं। ब्राह्मण दो प्रकार के होते हैं – सारसिद्ध और पुष्करणी। पुष्कर में रहने वालों को पुष्करणी कहा जाता है। परन्तु उन ब्राह्मणों को यह थोड़ेही पता है। कहेंगे हम ब्रह्मा मुखवंशावली हैं। जगत अम्बा का नाम तो बहुत बाला है। ब्रह्मा को इतना नहीं जानते। किसको धन बहुत मिलता है तो समझते हैं साधू-सन्तों की कृपा है। ईश्वर की कृपा नहीं समझते। बाप कहते हैं सिवाए मेरे और कोई भी कृपा कर नहीं सकते। हम तो सन्यासियों की महिमा भी करते हैं। अगर यह सन्यासी पवित्र न होते तो भारत जल मरता। परन्तु सद्गति दाता तो एक बाप ही है। मनुष्य, मनुष्य की सद्गति कर नहीं सकते।

बाबा ने समझाया है कि तुम सब सीतायें हो शोक वाटिका में। दु:ख में शोक तो होता है ना। बीमारी आदि होती है तो क्या दु:ख नहीं होगा। बीमार पड़ेंगे तो जरूर ख्याल चलेगा – कब अच्छे होंगे? ऐसे तो नहीं कहेंगे कि बीमार पड़े रहें। पुरूषार्थ करते हैं अच्छे हो जाएं। नहीं तो दवाई आदि क्यों करते? अब बाप कहते हैं मैं तुम बच्चों को इन दु:खों, बीमारियों आदि से छुड़ाकर इज़ाफा देता हूँ। माया रावण ने तुमको दु:ख दिया है। मुझे तो कहते हैं सृष्टि का रचयिता। सब कहते हैं भगवान् ने दु:ख देने लिए सृष्टि रची है क्या! स्वर्ग में ऐसे थोड़ेही कहेंगे।। यहाँ दु:ख है तब मनुष्य कहते हैं कि भगवान् को क्या पड़ी थी जो दु:ख के सृष्टि की रचना की, और कोई काम ही नहीं था? परन्तु बाप कहते हैं यह सुख-दु:ख, हार-जीत का खेल बना हुआ है। भारत पर ही खेल है – राम और रावण का। भारत की रावण से हारे हार है फिर रावण पर जीत पहन राम के बनते हैं। राम कहा जाता है शिवबाबा को। राम का भी, तो शिव का भी नाम लेना पड़ता है समझाने के लिए। शिवबाबा बच्चों का मालिक अथवा नाथ है। वह तुमको स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। बाप का वर्सा है ही स्वर्ग की प्राप्ति फिर उनमें है पद। स्वर्ग में तो देवतायें ही रहते हैं। अच्छा स्वर्ग बनाने वाले की महिमा सुनो।

(गीत) भारत की सौभाग्य विधाता यह जगदम्बा ही है। उनको कोई जानते ही नहीं। अम्बाजी पर तो बहुत मनुष्य जाते होंगे। यह बाबा भी बहुत बार गया है। बबुरनाथ के मन्दिर में, लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर मे अनेक बार गये होंगे। परन्तु कुछ भी पता नहीं था। कितना बेसमझ थे। अब मैंने इनको कितना समझदार बनाया है। जगदम्बा का टाइटिल कितना बड़ा है – भारत की सौभाग्य विधाता। अब तुमको अम्बाजी के मन्दिर में जाकर सर्विस करनी चाहिए। जगत अम्बा के 84 जन्मों की कहानी बतानी चाहिए। ऐसे तो मन्दिर बहुत हैं। मम्मा के इस चित्र को तो मानेंगे नहीं। अच्छा, उस अम्बा की मूर्ति पर ही समझाओ और साथ में यह गीत ले जाओ। यह गीत ही तुम्हारी सच्ची गीता हैं। सर्विस तो बहुत है ना। परन्तु सर्विस करने वाले बच्चों में भी सच्चाई चाहिए। तुम यह गीत जगत अम्बा के मन्दिर में ले जाकर समझाओ। जगदम्बा भी कन्या है, ब्राह्मणी है। जगदम्बा को इतनी भुजायें क्यों दी हैं? क्योंकि उनके मददगार बच्चे बहुत हैं। शक्ति सेना है ना। तो चित्रों में फिर अनेक बाहें दिखा दी हैं। शरीर कैसे दिखलाते? बाहें निशानी सहज हैं, शोभती हैं। टांगे दें तो पता नहीं कैसी शक्ल हो जाए। ब्रह्मा को भी भुजायें दिखाते हैं। तुम सब उनके बच्चे हो परन्तु इतनी बाहें तो दे न सकें। तो तुम कन्याओं-माताओं को सर्विस में लग जाना चाहिए। अपना सौभाग्य बना लो। अम्बा के मन्दिर में तुम इस गीत पर जाकर महिमा करो तो ढेर आ जायेंगे। तुम इतना नाम निकालेंगी जो पुरानी ब्रह्माकुमारियां भी नहीं निकालती। यह छोटी-छोटी कन्यायें कमाल कर सकती हैं। बाबा सिर्फ एक को नहीं, सब कन्याओं को कहते हैं। हज़ारों आकर तुम्हारे चरणों पर गिरेंगे। उनके आगे इतने नहीं गिरेंगे जितने तुम्हारे आगे गिरेंगे। हाँ, इसमें लोकलाज को छोड़ना है। बिल्कुल ही नष्टोमोहा होना है। कहेंगी मुझे तो सगाई करनी ही नहीं है, हम तो पवित्र रहकर भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा करेंगी। अधर कुमारी को तो फिर भी दाग़ लग जाता है। कुमारी ने सगाई की और दाग़ लगने शुरू हो जाते हैं। रंग-बिंरगी माया लग जाती है। इस जन्म में मनुष्य क्या से क्या हो सकता है। मम्मा भी इस जन्म में हुई है। उन्हों को मर्तबा मिला है अल्पकाल के लिए। मम्मा को मिलता है 21 जन्मों के लिए। तुम भी नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बन रही हो। सम्पूर्ण पास हो जायेंगे तो फिर दैवी जन्म मिलेगा। उन्हों को तो है अल्पकाल का सुख, उसमें भी कितनी फिक्र रहती है। हम तो हैं गुप्त। हमको बाहर में कुछ शो नहीं करना है। वह शो करते हैं। यह राज्य तो रूण्य के पानी मिसल (मृगतृष्णा समान) है। शास्त्रों में भी है द्रोपदी ने कहा – अन्धे की औलाद अन्धे, यह जिसको राज्य समझते हो यह तो अभी खत्म हुआ कि हुआ। रक्त की नदियां बहनी हैं। पाकिस्तान का जब बंटवारा हुआ तो घर-घर में कितनी मारपीट करते थे। अभी तो चलते-फिरते रास्तों पर मारपीट होगी। कितना खून बहता है, क्या इसको स्वर्ग कहेंगे? क्या यही नई देहली, नया भारत है? नया भारत तो परिस्तान था। अभी तो विकारों की प्रवेशता है, बड़े दुश्मन हैं। राम-रावण का जन्म भारत में ही दिखाते हैं। शिव जयन्ती विलायत में नहीं मनाते हैं, यहाँ ही मनाते हैं। तुम जानते हो रावण कब आता है? जब दिन पूरा हो रात हुई तो रावण आ गया। जिसको वाम मार्ग कहा जाता है। दिखाते भी हैं वाम मार्ग में जाने से देवताओं की क्या हालत हो जाती है।

बच्चों को सर्विस करनी चाहिए। जो खुद जागृत होगा वही जागृत कर सकेंगे। बाबा तो शुभ चिन्तक है। कहेंगे कहीं इनको माया का थप्पड़ न लगे। बीमार होंगे तो सर्विस नहीं कर सकेंगे। जगत अम्बा को ही ज्ञान का कलष मिलता है, लक्ष्मी को नहीं। लक्ष्मी को धन दिया, जिससे दान कर सकती है। लेकिन वहाँ तो दान आदि होता नहीं। दान हमेशा गरीबों को किया जाता है। तो कन्यायें ऐसे-ऐसे मन्दिरों में जाकर सर्विस करें तो बहुत आयेंगे। शाबासी देंगे, पांव पड़ेंगे। माताओं का रिगॉर्ड भी है। मातायें सुनने से प्रफुल्लित भी होंगी। पुरूषों को फिर अपना नशा रहता है ना।

बाबा ने समझाया है – यह साकार है बाहरयामी। इनके अन्दर जो लॉर्ड रहता है, वह है लॉर्ड ऑफ लॉर्ड। कृष्ण को लॉर्ड कृष्णा कहते हैं ना। हम तो कहते हैं कृष्ण का भी लॉर्ड ऑफ लॉर्ड वह परमात्मा है। उनको यह मकान दिया गया है। तो यह लैण्डलेडी और लैण्ड लॉर्ड दोनों है। यह मेल भी है तो फीमेल भी है। वन्डर है ना।

भोग लग रहा है। अच्छा, बाबा को सभी का याद-प्यार देना। खुशी से सलाम भेजते हैं बड़े उस्ताद को। यह एक रस्म-रिवाज है। जैसे शुरू में साक्षात्कार होते थे, ऐसे अन्त में भी बाबा बहुत बहलायेंगे। आबू में बहुत बच्चे आयेंगे। जो होंगे सो देखेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास – 8-4-68

यह ईश्वरीय मिशन चल रही है। जो अपने देवी-देवता धर्म के होंगे वही आ जायेंगे। जैसे उन्हों की मिशन है क्रिश्चियन बनाने की। जो क्रिश्चियन बनते हैं उनको क्रिश्चियन डिनायस्टी में सुख मिलता है। वेतन अच्छा मिलता है, इसलिये क्रिश्चियन बहुत हो गये हैं। भारतवासी इतना वेतन आदि नहीं दे सकते। यहाँ करप्शन बहुत है। बीच में रिश्वत न लें तो नौकरी से ही जवाब। बच्चे बाप से पूछते हैं इस हालत में क्या करें? कहेंगे युक्ति से काम करो फिर शुभ कार्य में लगा देना।

यहाँ सभी बाप को पुकारते हैं कि आकर हम पतितों को पावन बनाओ, लिबरेट करो, घर ले जाओ। बाप जरूर घर ले जायेंगे ना। घर जाने लिये ही इतनी भक्ति आदि करते हैं। परन्तु जब बाप आये तब ही ले जाये। भगवान है ही एक। ऐसे नहीं सभी में भगवान आकर बोलते हैं। उनका आना ही संगम पर होता है। अभी तुम ऐसी-ऐसी बातें नहीं मानेंगे। आगे मानते थे। अभी तुम भक्ति नहीं करते हो। तुम कहते हो हम पहले पूजा करते थे। अब बाप आया है हमको पूज्य देवता बनाने लिये। सिक्खों को भी तुम समझाओ। गायन है ना मनुष्य से देवता….। देवताओं की महिमा है ना। देवतायें रहते ही हैं सतयुग में। अभी है कलियुग। बाप भी संगमयुग पर पुरुषोत्तम बनने की शिक्षा देते हैं। देवतायें हैं सभी से उत्तम, तब तो इतना पूजते हैं। जिसकी पूजा करते हैं वह जरूर कभी थे, अभी नहीं हैं। समझते हैं यह राजधानी पास्ट हो गई है। अभी तुम हो गुप्त। कोई जानते थोड़ेही हैं कि हम विश्व के मालिक बनने वाले हैं। तुम जानते हो हम पढ़कर यह बनते हैं। तो पढ़ाई पर पूरा अटेन्शन देना है। बाप को बहुत प्यार से याद करना है। बाबा हमको विश्व का मालिक बनाते हैं तो क्यों नहीं याद करेंगे। फिर दैवीगुण भी चाहिए। अच्छा!

रूहानी बच्चों को रूहानी बाप व दादा का याद प्यार गुडनाईट और नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस दुनिया में अपना बाहरी शो नहीं करना है। सम्पूर्ण पास होने के लिए गुप्त पुरूषार्थ करते रहना है।

2) इस रंग-बिरंगी दुनिया में फंसना नहीं है। नष्टोमोहा बन बाप का नाम बाला करने की सेवा करनी है। सबका सौभाग्य जगाना है।

वरदान:- सदा खुशी की खुराक खाने और खिलाने वाले खुशहाल, खुशनसीब भव
आप बच्चों के पास सच्चा अविनाशी धन है इसलिए सबसे साहूकार आप हो। चाहे सूखी रोटी भी खाते हो लेकिन खुशी की खुराक उस सूखी रोटी में भरी हुई है, उसके आगे कोई खुराक नहीं। सबसे अच्छी खुराक खाने वाले, सुख की रोटी खाने वाले आप हो इसलिए सदा खुशहाल हो। तो ऐसे खुशहाल रहो जो और भी देखकर खुशहाल हो जाएं तब कहेंगे खुशनसीब आत्मायें।
स्लोगन:- नॉलेजफुल वह है जिसका एक भी संकल्प वा बोल व्यर्थ न जाये।
Font Resize