6 august ki murli

TODAY MURLI 6 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 6 August 2020

06/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, wake up early in the morning and think about how such a tiny soul makes such a huge body function. I, a soul, have an imperishable part recorded in me.
Question: What practice does Shiv Baba have and what practice does He not have?
Answer: Shiv Baba has the practice of decorating souls with jewels of knowledge, but He doesn’t have the practice of decorating a body, because He says: I do not have a body of My own. Although I take this one’s body on loan, it is that soul that decorates his own body. I don’t do that. I am always bodiless.
Song: Even though the world may change, we will not change or turn away.

Om shanti. You children heard this song. Who heard it? You souls heard it with the ears of your bodies. You children now understand how tiny a soul is. When there is not a soul in a body, the body is of no use. Such a huge body functions with the support of such a tiny soul! No one in the world knows the soul that is present in this chariot. This is the throne of the soul, the immortal image. You children receive this knowledge. It is so entertaining and also meaningful. When you hear something meaningful, you continually think about it. You children also continue to think about how such a tiny soul is in such a big body. A part of 84 births is recorded in this soul. The body perishes and the soul remains. This is something to think about. Wake up in the morning and think about these things. You children have now remembered that a soul is so tiny and has received an eternal part. I, the soul, am so wonderful! This is new knowledge and no one in the world knows about it. Only the Father comes and tells you this. You have to keep thinking about how such a tiny soul plays his part. A body is made of the five elements. Baba doesn’t know how Shiv Baba’s soul comes and goes. It isn’t that He constantly stays in this body. Therefore, you should think about these things. No one else can receive such knowledge as this which the Father gives to you children. You know that this soul (Brahma Baba’s) truly did not have this knowledge before. No one at other spiritual gatherings ever thinks about these things. No one has the slightest knowledge of souls or the Supreme Soul. None of the sannyasis or holy men knows that it is a soul that gives mantras to others through his body. Souls study the scriptures with their bodies. Not a single human being is soul conscious. No one has the knowledge of souls. Therefore, how could anyone have the knowledge of the Father? You children know that it is to you souls that the Father says: Sweetest children, you are becoming so sensible! There isn’t a single human being who understands that the Supreme Father, the Supreme Soul, sits here and teaches the soul that is in this body. These matters have to be clearly understood. However, when you become busy with your business etc., you forget. First of all, the Father gives you knowledge of souls. No human being has this knowledge. It is remembered that souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. There is an account of this. You children know that it is a soul that speaks through a body. Each soul performs good or bad acts through a body. The Father comes and makes you souls so beautiful. First of all, the Father says: When you wake up in the morning, practise thinking about what the soul, who listens through your body, is. The Father of souls is the Supreme Father, the Supreme Soul, who is also called the Purifier and the Ocean of Knowledge. Therefore, how could any human being be called an ocean of happiness or an ocean of peace, as they say? Would you say that Lakshmi and Narayan are always oceans of purity? No! Only the one Father is constantly the Ocean of Purity. Human beings simply sit and speak about the scriptures of the path of devotion. They don’t have any practical experience. They don’t understand that it is souls that praise the Father through their bodies. He is our very sweet Baba. He alone is the Bestower of Happiness. The Father says: O souls, now follow My directions! You imperishable souls receive eternal directions from the eternal Father. Those perishable bodily beings receive directions from perishable bodily beings. In the golden age, you receive the reward you earn here. There, no one receives wrong directions. The shrimat you are given now is eternal; it lasts for half the cycle. This is new knowledge. One needs to have such an intellect that one is able to grasp this and then act upon it. Only those who have done devotion from the beginning will be able to imbibe this very well. You should understand that if your intellect is unable to imbibe this well, you definitely have not done devotion from the beginning. The Father says: If you don’t understand anything, then ask the Father because He is the eternal Surgeon. He is also called the Supreme Soul. When souls become pure, they are praised. When there is praise of souls, there is also praise of their bodies. When a soul is tamopradhan, even his body isn’t praised. At this time, you children receive very deep intellects. It is you souls that receive them. You souls have to become very sweet and give happiness to everyone. Baba is so sweet! He also makes souls very sweet. Practise: We souls should not perform any unrighteous actions. Check: Am I doing anything unrighteous? Would Shiv Baba do anything unrighteous? No! He comes to carry out the most elevated, benevolent task of all. He grants salvation to everyone. Therefore, you children have to perform the same task that the Father carries out. You have been told that those who have done a lot of devotion from the beginning will be able to retain this knowledge. Even now, there are many devotees of the deities. They are even ready to cut off their own heads. Those who have done little devotion continue to hang around the ones who have done a lot of devotion; they sing praise of them. Everything of theirs is physically visible. Here, you are incognito. Your intellects have the whole knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. You children also know that the Father has come to teach us and that we are now to go back home. The place where all souls reside is our home. Since there are no bodies there, how could there be any sound? Without a soul, a body becomes non-living. Human beings have so much attachment to their bodies. When a soul leaves his body, only the five elements remain and yet human beings still have so much love for that. A wife is ready to climb onto her husband’s funeral pyre; there is so much attachment to that body. You now understand that you have to destroy all your attachment to the whole world. This body is going to be destroyed so all attachment has to be removed from it. However, there is a lot of attachment. On the day of remembrance of a departed soul, a brahmin priest is offered food (they indirectly offer food to the departed spirit). That soul cannot eat anything. You children now have to separate yourselves from those things. Each one plays his own part in the drama. At this time, you have the knowledge that you have to become destroyers of attachment. There is the story of the king who conquered attachment. There was not really a king who had conquered attachment. They just made up many stories. There is no untimely death there. Therefore, there is no question of asking about anything. It is at this time that you are made into conquerors of attachment. In the golden age, there are the kings who conquered attachment. As are the king and queen, so their subjects. In fact, that whole kingdom is of those who conquered attachment. It is in Ravan’s kingdom that there is attachment. There is no vice there, because Ravan’s kingdom is not there; Ravan’s kingdom disappears. No one knows anything about what happens in the kingdom of Rama. No one, but the Father, can tell you these things. Although the Father is in this body, He still remains soul conscious. Even when a house is taken on loan or rented, there is still attachment to that house. People furnish their houses very well. That One doesn’t need to furnish anything because the Father is bodiless. He doesn’t have any practice of decorating a body. He only has the practice of decorating the children with the imperishable jewels of knowledge. He explains to you the secrets of the beginning, the middle and the end of the world. This body is impure, but when he receives his next body, that will be pure. At this time, this world is old and has to be destroyed. No one in the world knows this. They will gradually come to know about it. It is only the Father’s task to establish the new world and destroy the old world. The Father comes and creates creation through Brahma in order to establish the new world. Are you in the new world? No; the new world is being established. Therefore, the topknot of Brahmins is the highest. Baba has explained that when you come face to face with Baba, first of all, remember that you are coming directly in front of God, the Father. Shiv Baba is incorporeal. How can you go face to face in front of Him? Therefore, remember that Father, and then come in front of this father. You know that He is sitting in this one. This body is impure. When you do something without being in remembrance of Shiv Baba, sin is accumulated. We are going to Shiv Baba. Then, in our next births, we will have different relatives. There, we will go into the laps of deities. Only once do we receive this lap of God. You say: Baba, I now belong to You. There are many who have never even seen Him. They live outside and they write to Shiv Baba: Baba, I have become Your adopted child. There is knowledge in the intellect. The soul says: I now belong to Shiv Baba. Before this, we were in the laps of impure ones. In the future, we will go into the laps of the pure deities. This birth is invaluable. You become as valuable as a diamond at the confluence age. The confluence age is not the meeting of the rivers of water with an ocean. There is the difference of night and day. The Brahmaputra River is the biggest river. It meets an ocean. Rivers flow into oceans. You are the rivers of knowledge who have emerged from the Ocean. Shiv Baba is the Ocean of Knowledge. The biggest river of all is the Brahmaputra River. This one’s name is Brahma. He is so similar to the Ocean. You know from where rivers emerge. They emerge from an ocean and then merge back into an ocean. Sweet water is drawn from an ocean. You children of the Ocean come and then merge into the Ocean. You have emerged from the Ocean of Knowledge and all of you will then go back with Him to where He resides. You souls also stay there. The Ocean of Knowledge comes and makes you sweet and pure. He makes the souls that have become salty sweet again. The salty rubbish of the five vices is removed from you and you become satopradhan from tamopradhan. The Father inspires you to make a lot of effort. You were so satopradhan when you lived in heaven. You have now become completely dirty. Look what Ravan has made you become! Only in Bharat is it remembered: A birth as invaluable as a diamond. Baba continues to ask you: Why do you distress yourself chasing after shells? In any case, you don’t need many shells. The poor understand very quickly. The wealthy believe that it is heaven here for them now. You children know that the birth of all human beings at this time is as worthless as a shell. We too were like that. Look what Baba is now making us become. You have the aim and objective of changing from a human being into Narayan. Bharat is now poverty-stricken and worth a shell. The people of Bharat themselves don’t know this. Here, you are very ordinary, weak and innocent mothers. Important people do not feel like sitting here. Instead, they go to big gatherings where there are great sannyasis and gurus etc. The Father says: I am the Lord of the Poor. It is said that God protects the poor. You now know how wealthy you used to be. You are now once again becoming that. Baba writes that you are going to become multimillionaires. There is no fighting or battling there. Here, there is so much fighting over money. There is also so much bribery. Human beings need money. You children know that Baba is filling your treasure-stores. Take as much wealth as you want for half the cycle. However, you do have to make full effort. Don’t become careless. It is said: “Follow the father”. By following the father, this is what you will become: Lakshmi or Narayan from an ordinary man or woman. This is an important examination. Don’t be even slightly careless in this. The Father is giving you shrimat. Therefore, you should follow it. Don’t disobey the rules and regulations. You become elevated by following shrimat. The destination is very high. Keep a daily account as to whether there was a profit or a loss, how much you remembered the Father and to how many you showed the path. You are sticks for the blind. Each of you receives a third eye of knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become just as sweet as the Father and give everyone happiness. Don’t perform any unrighteous acts. Perform the most elevated task of benevolence.
  2. Don’t distress yourself chasing after shells. Make effort and make your life as valuable as a diamond. Don’t be careless.
Blessing: May you keep yourself safe from sin by your challenge and your practical life being equal and become a world server.
Let there be equality in the challenge you children issue and your practical lives. Otherwise, instead of becoming a charitable soul, you will become a burdened soul. Understand the philosophy of sin and charity and keep yourself safe because any type of weakness, even in your thoughts, wasteful words, wasteful intentions or feelings of dislike or jealousy increase your account of sin. Therefore, with the blessing of, “May you be a charitable soul”, keep yourself safe and become a world server. Give the experience of one direction collectively and a stable stage.
Slogan: When you light the flame of purity everywhere they will easily be able to see the Father.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 6 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

06-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – सवेरे-सवेरे उठ यही चिंतन करो कि मैं इतनी छोटी-सी आत्मा कितने बड़े शरीर को चला रही हूँ, मुझ आत्मा में अविनाशी पार्ट नूँधा हुआ है”
प्रश्नः- शिवबाबा को कौन-सी प्रैक्टिस है, कौन-सी नहीं?
उत्तर:- आत्मा का ज्ञान रत्नों से श्रृंगार करने की प्रैक्टिस शिवबाबा को है, बाकी शरीर का श्रृंगार करने की प्रैक्टिस उन्हें नहीं क्योंकि बाबा कहते मुझे तो अपना शरीर है नहीं। मैं इनका शरीर भल किराये पर लेता हूँ लेकिन इस शरीर का श्रृंगार यह आत्मा स्वयं करती, मैं नहीं करता। मैं तो सदा अशरीरी हूँ।
गीत:- बदल जाए दुनिया न बदलेंगे हम …….. Audio Player

ओम् शान्ति। बच्चों ने यह गीत सुना। किसने सुना? आत्मा ने इन शरीर के कानों द्वारा सुना। बच्चों को भी यह मालूम पड़ा कि आत्मा कितनी छोटी है। वह आत्मा इस शरीर में नहीं है तो शरीर कोई काम का नहीं रहता। कितनी छोटी आत्मा के आधार पर यह कितना बड़ा शरीर चलता है। दुनिया में किसको भी पता नहीं है कि आत्मा क्या चीज़ है जो इस रथ पर विराजमान होती है। अकालमूर्त आत्मा का यह तख्त है। बच्चों को भी यह ज्ञान मिलता है। कितना रमणीक, रहस्य युक्त है। जब कोई ऐसी रहस्ययुक्त बात सुनी जाती है तो चिन्तन चलता है। तुम बच्चों का भी यही चिन्तन चलता है – इतनी छोटी सी आत्मा है इतने बड़े शरीर में। आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट नूँधा हुआ है। शरीर तो विनाश हो जाता है। बाकी आत्मा रहती है। यह बड़ी विचार की बाते हैं। सवेरे उठकर यह ख्याल करना चाहिए। बच्चों को स्मृति आई है आत्मा कितनी छोटी है, उनको अविनाशी पार्ट मिला हुआ है। मैं आत्मा कितनी वन्डरफुल हूँ। यह नया ज्ञान है। जो दुनिया में किसको भी नहीं है। बाप ही आकर बतलाते हैं, जो सिमरण करना होता है। हम कितनी छोटी सी आत्मा कैसे पार्ट बजाती है। शरीर 5 तत्वों का बनता है। बाबा को थोड़ेही मालूम पड़ता है। शिवबाबा की आत्मा कैसे आती-जाती है। ऐसे भी नहीं, सदैव इसमें रहती है। तो यही चिंतन करना है। तुम बच्चों को बाप ऐसा ज्ञान देते हैं जो कभी कोई को मिल न सके। तुम जानते हो बरोबर यह ज्ञान इनकी आत्मा में नहीं था। और सतसंगों में ऐसी-ऐसी बातों पर कोई का ख्याल नहीं रहता है। आत्मा और परमात्मा का रिंचक भी ज्ञान नहीं है। कोई भी साधू-संन्यासी आदि यह थोड़ेही समझते कि हम आत्मा शरीर द्वारा इनको मंत्र देती है। आत्मा शरीर द्वारा शास्त्र पढ़ती है। एक भी मनुष्य मात्र आत्म-अभिमानी नहीं है। आत्मा का ज्ञान कोई को है नहीं, तो फिर बाप का ज्ञान कैसे होगा।

तुम बच्चे जानते हो हम आत्माओं को बाप कहते हैं मीठे-मीठे बच्चों! तुम कितना समझदार बन रहे हो। ऐसा कोई मनुष्य नहीं जो समझे कि इस शरीर में जो आत्मा है, उनको परमपिता परमात्मा बैठ पढ़ाते हैं। कितनी समझने की बातें हैं। परन्तु फिर भी धन्धे आदि में जाने से भूल जाते हैं। पहले तो बाप आत्मा का ज्ञान देते हैं जो कोई भी मनुष्य मात्र को नहीं है। गायन भी है ना – आत्मायें-परमात्मा अलग रहे बहुकाल… हिसाब है ना। तुम बच्चे जानते हो आत्मा ही बोलती है शरीर द्वारा। आत्मा ही शरीर द्वारा अच्छे वा बुरे काम करती है। बाप आकर आत्माओं को कितना गुल-गुल बनाते हैं। पहले-पहले तो बाप कहते हैं सवेरे-सवेरे उठकर यही प्रैक्टिस वा ख्याल करो कि आत्मा क्या है? जो इस शरीर द्वारा सुनती है। आत्मा का बाप परमपिता परमात्मा है, जिसको पतित-पावन, ज्ञान का सागर कहते हैं। फिर कोई मनुष्य को सुख का सागर, शान्ति का सागर कैसे कह सकते। क्या लक्ष्मी-नारायण को कहेंगे सदैव पवित्रता का सागर? नहीं। एक बाप ही सदैव पवित्रता का सागर है। मनुष्य तो सिर्फ भक्ति मार्ग के शास्त्रों का बैठ वर्णन करते हैं। प्रैक्टिकल अनुभव नहीं है। ऐसे नहीं समझेंगे हम आत्मा इस शरीर से बाप की महिमा करते हैं। वह हमारा बहुत मीठा बाबा है। वही सुख देने वाला है। बाप कहते हैं – हे आत्मायें, अब मेरी मत पर चलो। यह अविनाशी आत्मा को अविनाशी बाप द्वारा अविनाशी मत मिलती है। वह विनाशी शरीरधारियों को विनाशी शरीरधारियों की ही मत मिलती है। सतयुग में तो तुम यहाँ की प्रालब्ध पाते हो। वहाँ कभी उल्टी मत मिलती ही नहीं। अभी की श्रीमत ही अविनाशी बन जाती है, जो आधाकल्प चलती है। यह नया ज्ञान है, कितनी बुद्धि चाहिए इसको ग्रहण करने की। और एक्ट में आना चाहिए। जिन्हों ने शुरू से बहुत भक्ति की होगी वही अच्छी रीति धारण कर सकेंगे। यह समझना चाहिए – अगर हमारी बुद्धि में ठीक रीति धारणा नहीं होती है, तो जरूर शुरू से हमने भक्ति नहीं की है। बाप कहते हैं कुछ भी नहीं समझते हो तो बाप से पूछो क्योंकि बाप है अविनाशी सर्जन। उनको सुप्रीम सोल भी कहा जाता है। आत्मा पवित्र बनती है तो उनकी महिमा होती है। आत्मा की महिमा है तो शरीर की भी महिमा होती है। आत्मा तमोप्रधान है तो शरीर की भी महिमा नहीं। इस समय तुम बच्चों को बहुत गुह्य बुद्धि मिलती है। आत्मा को ही मिलती है। आत्मा को कितना मीठा बनना चाहिए। सबको सुख देना चाहिए। बाबा कितना मीठा है। आत्माओं को भी बहुत मीठा बनाते हैं। आत्मा कोई भी अकर्तव्य कार्य न करे – यह प्रैक्टिस करनी है। चेक करना है कि मेरे से कोई अकर्तव्य तो नहीं होता है? शिवबाबा कभी अकर्तव्य कार्य करेंगे? नहीं। वह आते ही हैं उत्तम से उत्तम कल्याणकारी कार्य करने। सबको सद्गति देते हैं। तो जो बाप कर्तव्य करते हैं, बच्चों को भी ऐसा कर्तव्य करना चाहिए। यह भी समझाया है, जिसने शुरू से लेकर बहुत भक्ति की है, उनकी बुद्धि में ही यह ज्ञान ठहरेगा। अभी भी देवताओं के ढेर भक्त हैं। अपना सिर देने के लिए भी तैयार रहते हैं। बहुत भक्ति करने वालों के पिछाड़ी, कम भक्ति करने वाले लटकते रहते। उनकी महिमा गाते हैं। उनका तो स्थूल में सब देखने में आता है। यहाँ तुम हो गुप्त। तुम्हारी बुद्धि में सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का सारा ज्ञान है। यह भी बच्चों को मालूम है – बाबा हमको पढ़ाने आये हैं। अब फिर हम घर जायेंगे। जहाँ सब आत्मायें आती हैं, वह हमारा घर है। वहाँ शरीर ही नहीं तो आवाज़ कैसे हो। आत्मा के बिना शरीर जड़ बन जाता है। मनुष्यों का शरीर में कितना मोह रहता है! आत्मा शरीर से निकल गई तो बाकी 5 तत्व, उन पर भी कितना लव रहता है। स्त्री पति की चिता पर चढ़ने लिए तैयार हो जाती है। कितना मोह रहता है शरीर में। अभी तुम समझते हो नष्टोमोहा होना है, सारी दुनिया से। यह शरीर तो खत्म होना है। तो उनसे मोह निकल जाना चाहिए ना। परन्तु बहुत मोह रहता है। ब्राह्मणों को खिलाते हैं। याद करते हैं ना – फलाने का श्राध है। अब वह थोड़ेही खा सकते हैं। तुम बच्चों को तो अब इन बातों से अलग हो जाना चाहिए। ड्रामा में हर एक अपना पार्ट बजाते हैं। इस समय तुमको ज्ञान है, हमको नष्टोमोहा बनना है। मोहजीत राजा की भी कहानी है ना और कोई मोह जीत राजा होता नहीं। यह तो कथायें बहुत बनाई हैं ना। वहाँ अकाले मृत्यु होती नहीं। तो पूछने की भी बात नहीं रहती। इस समय तुमको मोहजीत बनाते हैं। स्वर्ग में मोह जीत राजायें थे, यथा राजा रानी तथा प्रजा ऐसे हैं। वह है ही नष्टोमोहा की राजधानी। रावण राज्य में मोह होता है। वहाँ तो विकार होता नहीं, रावण राज्य ही नहीं। रावण की राजाई चली जाती है। राम राज्य में क्या होता है, कुछ भी पता नहीं। सिवाए बाप के और कोई यह बातें बता न सके। बाप इस शरीर में होते भी देही-अभिमानी है। लोन अथवा किराये पर मकान लेते हैं तो उसमें भी मोह रहता है। मकान को अच्छी रीति फर्निश करते हैं, इनको तो फर्निश करना नहीं है क्योंकि बाप तो अशरीरी है ना। इनको कोई भी श्रृंगार आदि करने की प्रैक्टिस ही नहीं है। इनको तो अविनाशी ज्ञान रत्नों से बच्चों को श्रृंगारने की ही प्रैक्टिस है। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाते हैं। शरीर तो अपवित्र ही है, इनको जब दूसरा नया शरीर मिलेगा तो पवित्र होंगे। इस समय तो यह पुरानी दुनिया है, यह खत्म हो जानी है। यह भी दुनिया में किसको पता ही नहीं है। धीरे-धीरे मालूम पड़ेगा। नई दुनिया की स्थापना और पुरानी दुनिया का विनाश – यह तो बाप का ही काम है। बाप ही आकर ब्रह्मा द्वारा प्रजा रच नई दुनिया की स्थापना कर रहे हैं। तुम नई दुनिया में हो? नहीं, नई दुनिया स्थापन होती है। तो ब्राह्मणों की चोटी भी ऊंच है। बाबा ने समझाया है, बाबा के सम्मुख आते हो तो पहले यह याद करना है कि हम ईश्वर बाप के सम्मुख जाते हैं। शिवबाबा तो निराकार है। उनके सम्मुख हम कैसे जायें। तो उस बाप को याद कर फिर बाप के सम्मुख आना है। तुम जानते हो वह इसमें बैठा हुआ है। यह शरीर तो पतित है। शिवबाबा की याद में न रह कोई काम करते हो तो पाप लग जाता है। हम शिवबाबा के पास जाते हैं। फिर दूसरे जन्म में दूसरे सम्बन्धी होंगे। वहाँ देवताओं की गोद में जायेंगे। यह ईश्वरीय गोद एक ही बार मिलती है। मुख से कहते हैं बाबा हम आपका हो चुका। बहुत हैं जिन्होंने कभी देखा भी नहीं है। बाहर में रहते हैं, लिखते हैं शिवबाबा हम आपकी गोद के बच्चे हो चुके हैं। बुद्धि में ज्ञान है। आत्मा कहती है-हम शिवबाबा के बन चुके। इनके पहले हम पतित की गोद के थे। भविष्य में पवित्र देवता की गोद में जायेंगे। यह जन्म दुर्लभ है। हीरे जैसा तुम यहाँ संगमयुग पर बनते हो। संगमयुग कोई उस पानी के सागर और नदियों को नहीं कहा जाता। रात दिन का फ़र्क है। ब्रह्मपुत्रा बड़े ते बड़ी नदी है, जो सागर में मिलती है। नदियां जाकर सागर में पड़ती हैं। तुम भी सागर से निकली हुई ज्ञान नदी हो। ज्ञान सागर शिवबाबा है। बड़े ते बड़े नदी है ब्रह्मपुत्रा। इनका नाम ब्रह्मा है। सागर से इनका कितना मेल है। तुमको मालूम है नदियां कहाँ से निकलती हैं। सागर से ही निकलती हैं, फिर सागर में पड़ती हैं। सागर से मीठा पानी खींचते हैं। सागर के बच्चे फिर सागर में जाकर मिलते हैं। तुम भी ज्ञान सागर से निकली हो फिर सब वहाँ चली जायेंगी, जहाँ वह रहते हैं, वहाँ तुम आत्मायें भी रहती हो। ज्ञान सागर आकर तुमको पवित्र मीठा बनाते हैं। आत्मा जो खारी बन गई है उनको मीठा बनाते हैं। 5 विकारों रूपी छी-छी नमकीन तुमसे निकल जाती है, तो तुम तमोप्रधान से सतो-प्रधान बन जाते हो। बाप पुरूषार्थ बहुत कराते हैं। तुम कितने सतोप्रधान थे, स्वर्ग में रहते थे। तुम बिल्कुल छी-छी बन गये हो। रावण ने तुमको क्या बनाया है। भारत में ही गाया जाता है हीरे जैसा जन्म अमोलक।

बाबा कहते रहते हैं तुम कौड़ियों पिछाड़ी क्यों हैरान होते हो। कौड़ियां भी जास्ती थोड़ेही चाहिए। गरीब झट समझ जाते हैं। साहूकार तो कहते हैं अभी हमारे लिए यहाँ ही स्वर्ग है। तुम बच्चे जानते हो – जो भी मनुष्यमात्र हैं सबका इस समय कौड़ी जैसा जन्म है। हम भी ऐसे थे। अभी बाबा हमको क्या बनाते हैं। एम-ऑब्जेक्ट तो है ना। हम नर से नारायण बनते हैं। भारत अब कौड़ी जैसा कंगाल है ना। भारतवासी खुद थोड़ेही जानते। यहाँ तुम कितने साधारण अबलायें हो। कोई बड़ा आदमी होगा तो उनको यहाँ बैठने की दिल नहीं होगी। जहाँ बड़े-बड़े आदमी संन्यासी गुरू आदि लोग होंगे वहाँ की बड़ी-बड़ी सभाओं में जायेंगे। बाप भी कहते हैं मैं गरीब निवाज हूँ। कहते हैं भगवान गरीबों की रक्षा करते हैं। अभी तुम जानते हो – हम कितने साहूकार थे। अभी फिर बनते हैं। बाबा लिखते भी हैं तुम पदमापदमपति बनते हो। वहाँ पर मारा-मारी नहीं होती है। यहाँ तो देखो पैसे के पीछे कितनी मारामारी है। रिश्वत कितनी मिलती है। पैसे तो मनुष्यों को चाहिए ना। तुम बच्चे जानते हो बाबा हमारा खजाना भरपूर कर देते हैं। आधाकल्प के लिए जितना चाहिए उतना धन लो, परन्तु पुरूषार्थ पूरा करो। गफलत नहीं करो। कहा जाता है ना फालो फादर। फादर को फालो करो तो यह जाकर बनेंगे। नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी, बड़ा भारी इम्तहान है। इसमें जरा भी ग़फलत नहीं करनी चाहिए। बाप श्रीमत देते हैं तो फिर उस पर चलना है। कायदे कानून का उल्लंघन नहीं करना है। श्रीमत से ही तुम श्री बनते हो। मंजिल बहुत बड़ी है। अपना रोज़ का खाता रखो। कमाई की या नुकसान किया? बाप को कितना याद किया? कितने को रास्ता बताया? अन्धों की लाठी तुम हो ना। तुमको ज्ञान का तीसरा नेत्र मिलता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जैसे बाप मीठा है, ऐसे मीठा बन सबको सुख देना है। कोई भी अकर्तव्य कार्य नहीं करना है। उत्तम से उत्तम कल्याण का ही कार्य करना है।

2) कौड़ियों के पिछाड़ी हैरान नहीं होना है। पुरूषार्थ कर अपनी जीवन हीरे जैसी बनानी है। गफलत नहीं करनी है।

वरदान:- चैलेन्ज और प्रैक्टिकल की समानता द्वारा स्वयं को पापों से सेफ रखने वाले विश्व सेवाधारी भव
आप बच्चे जो चैलेन्ज करते हो उस चैलेन्ज और प्रैक्टिकल जीवन में समानता हो, नहीं तो पुण्य आत्मा के बजाए बोझ वाली आत्मा बन जायेंगे। इस पाप और पुण्य की गति को जानकर स्वयं को सेफ रखो क्योंकि संकल्प में भी किसी भी विकार की कमजोरी, व्यर्थ बोल, व्यर्थ भावना, घृणा वा ईर्ष्या की भावना पाप के खाते को बढ़ाती है इसलिए पुण्य आत्मा भव के वरदान द्वारा स्वयं को सेफ रख विश्व सेवाधारी बनो। संगठित रूप में एकमत, एकरस स्थिति का अनुभव कराओ।
स्लोगन:- पवित्रता की शमा चारों ओर जलाओ तो बाप को सहज देख सकेंगे।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 6 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 August 2019

To Read Murli 5 August 2019:- Click Here
06-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ज्ञान की धारणा करते रहो तो अन्त में तुम बाप समान बन जायेंगे, बाप की सारी ताकत तुम हज़म कर लेंगे”
प्रश्नः- किन दो शब्दों की स्मृति से स्वदर्शन चक्रधारी बन सकते हो?
उत्तर:- उत्थान और पतन, सतोप्रधान और तमोप्रधान, शिवालय और वेश्यालय। यह दो-दो बातें स्मृति में रहें तो तुम स्वदर्शन चक्रधारी बन जायेंगे। तुम बच्चे अभी ज्ञान को यथार्थ रीति जानते हो। भक्ति में ज्ञान नहीं है, सिर्फ दिल खुश करने की बातें करते रहते हैं। भक्ति मार्ग है ही दिल खुश करने का मार्ग।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति बाप बैठ समझाते हैं। अब तुम बच्चों के लिए बाप कहते हैं तुम कितने ऊंच थे। उत्थान और पतन का यह खेल है। तुम्हारी बुद्धि में अब है कि हम कितने उत्तम और पवित्र थे। अब कितने नींच बने हैं। देवी-देवताओं के आगे तुम ही जाकर कहते हो, आप ऊंच हो हम नींच हैं। पहले-पहले यह पता नहीं था कि हम ही ऊंच ते ऊंच और नींच बनते हैं। अभी बाप तुमको बताते हैं – मीठे-मीठे बच्चे तुम कितने ऊंच पवित्र थे फिर कितने अपवित्र बने हो। पवित्र को ऊंच कहा जाता है, उसको कहा जाता है वाइसलेस वर्ल्ड। वहाँ तुम्हारा राज्य था जो फिर अब स्थापन कर रहे हैं। बाप सिर्फ इशारा देते हैं कि तुम बहुत उत्तम शिवालय सतयुग के निवासी थे फिर जन्म लेते-लेते आधा में तुम विकार में गिरे तो पतित विशश बनें। आधाकल्प विशश रहे, अब फिर तुमको वाइसलेस सतोप्रधान बनना है। दो अक्षर याद करना है। अभी यह है तमोप्रधान दुनिया। सतोप्रधान दुनिया की निशानी यह लक्ष्मी-नारायण हैं, 5 हजार वर्ष की बात है। सतोप्रधान भारत में राज्य था। भारत बहुत उत्तम था, अभी कनिष्ट है। वाइसलेस से विशश बनने में तुमको 84 जन्म लगे। भल वहाँ भी थोड़ी-थोड़ी कला कमती होती जाती हैं। परन्तु कहेंगे तो सम्पूर्ण निर्विकारी ना। एकदम सम्पूर्ण निर्विकारी श्रीकृष्ण को कहेंगे। वह गोरा था, अब सांवरा बन गया है। तुम यहाँ बैठे हो तो बुद्धि में रहना चाहिए कि हम शिवालय में विश्व के मालिक थे। दूसरा कोई धर्म ही नहीं, सिर्फ हमारा ही राज्य था फिर 2 कला कम हुई। ज़रा-ज़रा कला कम होते, त्रेता में 2 कला कम हो गई। पीछे विशश बनते हैं और गिरते-गिरते छी-छी बन जाते हैं। इसको कहा जाता है विशश वर्ल्ड। विषय वैतरणी नदी में गोते खाते रहते हैं। वहाँ क्षीरसागर में रहते थे। तुम सारे वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी को, अपने 84 जन्मों की कहानी को भी समझ गये हो। हम वाइसलेस थे, इनके राज्य में थे, पवित्र राजाई थी, उसको कहेंगे फुल स्वर्ग, फिर त्रेता में सेमी स्वर्ग। यह बुद्धि में तो है ना। बाप ही आकर सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त का राज़ समझाते हैं। मध्य में ही रावण आया है, फिर अन्त में इस विशश दुनिया का विनाश होगा। फिर आदि में जाने के लिए पवित्र बनना है। अपने को आत्मा समझ मामेकम् याद करो। अपने को देह नहीं समझो। तुमने भक्ति मार्ग में वायदा किया था – बाबा, आप आयेंगे तो हम आपका ही बनेंगे। आत्मा बाप से बातें करती है। कृष्ण कोई बाप थोड़ेही था। आत्माओं का बाप निराकार शिवबाबा एक है। उस हद के बाप से हद का वर्सा, बेहद के बाप से बेहद का वर्सा भारत को मिलता है इसलिए सतयुग को कहा जाता है शिवालय। शिवबाबा ने आकर देवी-देवता धर्म की स्थापना की। यह तो सदैव याद रखना चाहिए। खुशी की बात है ना। अभी हम फिर शिवालय में जाते हैं। कोई मरता है तो कहेंगे स्वर्ग गया। परन्तु ऐसे कभी कोई जाता नहीं। यह सब भक्ति मार्ग के गपोड़े हैं – दिल खुश करने के लिए। सच-सच हेविन में तो अभी तुम जाने वाले हो। वहाँ कोई रोग आदि होते नहीं। तुम सदैव हर्षित रहते हो। तो बाप कितना सहज करके छोटे-छोटे बच्चों को जैसे बैठ समझाते हैं, भल बाहर में कहाँ भी रहते तुम पद पा सकते हो, इसमें पवित्रता तो पहले मुख्य है। खान-पान शुद्ध हो। देवताओं के आगे कभी सिगरेट, बीड़ी आदि का भोग लगाते हो क्या? ग्रंथ के आगे कभी अण्डे वा बीड़ी आदि का भोग रखा है? ग्रंथ को समझते हैं – यह जैसे गुरू गोविन्द का शरीर है। ग्रंथ को इतना मान देते हैं। यह गुरू की जैसे देह है। ऐसे सिक्ख लोग समझते हैं। परन्तु गुरू नानक ने थोड़ेही बैठ ग्रंथ लिखा है, नानक ने तो अवतार लिया। सिक्ख लोगों की वृद्धि हुई, बाद में वह ग्रंथ आदि लिखे हैं। एक के बाद फिर सिक्ख धर्म में आते गये हैं। पहले तो ग्रंथ भी इतना छोटा हाथ का लिखा हुआ था। अब गीता के लिये समझते हैं, यह कृष्ण का रूप है। ऐसे मानो जैसे नानक का ग्रंथ, वैसे कृष्ण की गीता गाई हुई है। कृष्ण भगवानुवाच ही कहते रहते हैं। इसको कहा जाता है अज्ञान। ज्ञान तो एक परमपिता परमात्मा में ही है। गीता से ही सद्गति होती है। वह ज्ञान तो बाप के पास ही है। ज्ञान से दिन, भक्ति से रात होती है। अब बाप कहते हैं आत्मा को पवित्र बनाना है, उसके लिए मेहनत करनी पड़े। माया के तूफान ऐसे जबरदस्त आते हैं जो ज्ञान एकदम उड़ जाता है। किसको बोल भी न सकें। पहला काम विकार ही बहुत तंग करता है। उसमें ही टाइम लगता है। है तो एक सेकण्ड में जीवन मुक्ति की बात। बच्चा पैदा हुआ और मालिक बना। तुमने पहचाना शिवबाबा आया हुआ है और वर्से के हकदार बनें। गीता भी शिवबाबा ने ही गाई थी, उसने ही कहा है मामेकम् याद करो। मैं इस साधारण तन में आता हूँ। कृष्ण साधारण थोड़ेही है। वह तो जन्म लेते हैं तो जैसे बिजली चमक जाती है। बहुत प्रभाव पड़ता है इसलिए श्रीकृष्ण का अब तक भी गायन करते हैं। बाकी शास्त्र आदि सब भक्ति मार्ग के हैं। इंगलिश में फिलासॉफी कह देते हैं। स्प्रीचुअल नॉलेज तो स्प्रीचुअल फादर ही दे सकते हैं। खुद कहते हैं मैं तुम्हारा स्प्रीचुअल फादर हूँ। ज्ञान का सागर हूँ। तुम बच्चे भी बाप से सीख रहे हो। ज्ञान को धारण कर रहे हो। फिर पिछाड़ी में बाप मिसल बन जायेंगे। सारा मदार धारणा पर है। फिर वह ताकत आ जायेगी, बाप की याद से। याद को जौहर कहा जाता है। तलवारों में भी फ़र्क तो होता है ना। वही तलवार 100 रूपये वाली भी होती है। वही तलवार 3-4 हजार की भी होती है। बाबा तो अनुभवी है ना। तलवार का बहुत मान होता है। गुरू गोविन्द सिंह की तलवार का कितना मान है। तो तुम बच्चों में भी योग का बल चाहिए। तो ज्ञान तलवार में जौहर चाहिए। जौहर आने से फिर जल्दी समझेंगे। ड्रामा अनुसार तुम मेहनत करते रहते हो। जितना-जितना बाप को याद करेंगे, याद से ही पाप कटेंगे। पतित-पावन बाप ही युक्ति बता रहे हैं। फिर कल्प बाद भी ऐसे ही आकर तुमको ज्ञान देंगे। इनको भी सब त्याग कराके ऐसे ही अपना रथ बनायेंगे। तुम बच्चों को वहाँ कितनी कशिश हुई। कैसे सब भागे। बाप में कशिश है ना। अभी तुमको भी ऐसा सम्पूर्ण बनना है। नम्बरवार ही बनेंगे। यह राजधानी स्थापन होती है।

सृष्टि चक्र को तो समझ लिया है। सतयुग आदि से कलियुग अन्त तक। अभी है संगमयुग। बाप को भी जरूर आना पड़े पावन बनाने। पावन अर्थात् सतोप्रधान। फिर खाद पड़ती गई। अब वह खाद निकले कैसे? आत्मा सच्ची होती है तो जेवर भी सच्चा अर्थात् गोरा शरीर होता है। आत्मा झूठी बनती है तो शरीर भी पतित होता है। ज्ञान के पहले तो यह भी नमन-वन्दन करते थे। लक्ष्मी-नारायण का बड़ा चित्र आयलपेंट का गद्दी पर लगा रहता था। उनको ही बहुत प्यार से याद करते थे और कोई की याद नहीं। बाहर और तरफ ख्याल जाता था तो अपने को चमाट मारते थे। मन भागता क्यों है, दर्शन क्यों नही मिलता है। भक्ति में था ना। फिर जब विष्णु का दर्शन हुआ तो भी कोई नारायण थोड़ेही हो गया। पुरूषार्थ तो जरूर करना होता है, एम आबजेक्ट तो सामने खड़ी है। यह चैतन्य में थे, जिनका जड़ चित्र बनाया है। बाप आया है पावन बनाने, नर से नारायण बनाते हैं। तुम भी उन्हों की राजधानी में थे। फिर ऐसा बनने का पुरूषार्थ करते हो तो अच्छी रीति फालो करना चाहिए। ब्रह्मा को देवता थोड़ेही कहा जाता है। विष्णु देवता ठीक है। मनुष्यों को तो कुछ पता नहीं। कहते हैं गुरू ब्रहमा, गुरू विष्णु…….। अब विष्णु गुरू किसका हुआ? सबको गुरू कहते रहते हैं। शिव परमात्मा नम: उनको गुरू, उनको परमात्मा कह देते हैं। सबसे बड़ा तो बाप है ना। उनसे हम यह सीख रहे हैं औरों को सिखलाने लिए। सतगुरू जो तुमको समझाते हैं, वह तुम औरों को समझाते हो। गुरू को ऐसे नहीं कहेंगे कि यह बाप है, टीचर है। नहीं तो यह सारी नॉलेज तुम्हारी बुद्धि में होनी चाहिए। हम शिवालय में थे, अभी वेश्यालय में पड़े हैं। फिर अब शिवालय में जाना है। भल कहते हैं ब्रह्म में लीन हो गया, ज्योति ज्योत समाया। परन्तु आत्मा तो अविनाशी है। हर एक में अपना-अपना पार्ट भरा हुआ है। सब एक्टर्स हैं, उनको अपना पार्ट बजाना ही है। वह कभी मिट नहीं सकता। जो भी सारी दुनिया की आत्मायें हैं, उनको पार्ट बजाना है। जैसेकि नयेसिर शूटिंग होती जाती है। परन्तु यह अनादि शूटिंग हुई पड़ी है। यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती रहती है। यह वन्डरफुल सितारा है जो भ्रकुटी के बीच चमकता है। कभी घिसता ही नहीं। यह ज्ञान तुम्हारे में आगे नहीं था। वन्डर ऑफ वर्ल्ड। हेविन अथवा स्वर्ग नाम सुनकर दिल खुश होता है। अभी तो सतयुग है नहीं। अभी है कलियुग। तो पुनर्जन्म भी कलियुग में ही लेंगे। जाना तो सबको जरूर है परन्तु पतित आत्मायें तो जा न सकें। अभी तुम बच्चे पावन बनते हो – योगबल से। पावन दुनिया गॉड फादर ही स्थापन करते हैं। फिर रावण हेल बनाते हैं। यह तो प्रत्यक्ष है ना। रावण को जलाते हैं ना। मनुष्य तो कहते हैं यह अनादि चला आता है। परन्तु कब से शुरू होता, यह भी किसको पता नहीं है। आधा-आधा तो कर न सकें क्योंकि लाखों वर्ष कह देते हैं। कलियुग को फिर 40 हजार वर्ष कह देते हैं। तो मनुष्य घोर अन्धियारे में हैं ना। अज्ञान नींद से जागना बड़ा मुश्किल है, जागते ही नहीं हैं। अभी है संगमयुग जबकि बाप आकर पावन बनने की युक्ति बताते हैं। तुम पावन होंगे तो पावन दुनिया स्थापन हो ही जायेगी। यह पतित दुनिया ही खलास हो जायेगी। अभी कितनी बड़ी दुनिया है। सतयुग में तो बहुत छोटी दुनिया हो जायेगी। अब माया पर जीत पाकर पावन जरूर बनना है। बाप कहते हैं माया बड़ी दुस्तर है। पावन बनने में ही अनेक प्रकार के विघ्न डालती है। पवित्र बनने की हिम्मत रखते हैं, फिर माया आकर क्या हाल बना देती है। घूंसा लगाकर गिरा देती है। की कमाई खत्म कर देती है। फिर बहुत मेहनत करनी पड़ती है। कोई तो गिरते हैं फिर मुंह भी नहीं दिखाते हैं फिर इतना ऊंच पद पा न सकें। पुरूषार्थ पूरा होना चाहिए। फेल नहीं होना चाहिए इसलिए कोई गन्धर्वी विवाह भी करके दिखाते हैं। सन्यासी लोग कहते शादी की और पवित्र रहे यह तो इम्पॉसिबुल है। बाप कहते हैं पॉसिबुल है क्योंकि प्राप्ति बहुत है। यह अन्तिम एक जन्म तुम पवित्र बनेंगे तो तुमको स्वर्ग की बादशाही मिलेगी। क्या इतनी बड़ी प्राप्ति के लिए तुम एक जन्म पवित्र नहीं रह सकते हो? कहते हैं बाबा हम जरूर रहेंगे। सिक्ख लोग भी पवित्रता का कंगन डालते हैं। यहाँ कोई धागा आदि बांधने की दरकार नहीं। यह तो बुद्धि की बात है। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। बच्चियाँ बहुतों को सुनाती हैं। परन्तु बड़े आदमियों की बुद्धि में बैठता थोड़ेही है। बाप कहते हैं पहले उनको अच्छी रीति से समझाओ – यह सब प्रजापिता ब्रहमा की औलाद हैं। शिवबाबा से वर्सा मिल रहा है। पतित से पावन बनना है। अब बाप कहते हैं मामेकम् याद करो, ऐसा तो कोई कह न सकें। पहले तो उनकी बुद्धि में बिठाना है भारत वाइसलेस था, अभी विशश है फिर वाइसलेस कैसे बनेगा? भगवानुवाच मामेकम् याद करो। बस इतना कहे तो भी अहो भाग्य, परन्तु इतना भी कह नहीं सकेंगे। भूल जायेंगे। बाबा ने समझाया था उद्घाटन तो बाप ने कर दिया है। बाकी तुम निमित्त कर रहे हो। फाउन्डेशन लगा दिया है, बाकी अब सर्विस स्टेशन का उद्घाटन होता है। यह तो गीता की ही बात है, गीता में भी है – हे बच्चों, तुम काम पर जीत पहनो तो ऐसे जगतजीत बनेंगे, 21 जन्मों के लिए। भल खुद न बनें, औरों को तो समझायें। ऐसे भी बहुत हैं, औरों को उठाकर खुद गिर पड़ते हैं। काम महाशत्रु है, एकदम गटर में गिरा देता है। जो बच्चे काम पर जीत पाते हैं वही जगतजीत बनते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस अन्तिम जन्म में सर्व प्राप्तियों को सामने रख पावन बनकर दिखाना है। माया के विघ्नों से हार नहीं खानी है।

2) एम ऑबजेक्ट को सामने रख पूरा पुरूषार्थ करना है। जैसे ब्रह्मा बाप पुरूषार्थ कर नर से नारायण बनते हैं, ऐसे फालो कर गद्दी नशीन बनना है। आत्मा को सतोप्रधान बनाने की मेहनत करनी है।

वरदान:- शुभचिंतन द्वारा निगेटिव को पॉजिटिव में परिवर्तन करने वाले शुभचिंतक भव
सदा समर्थ रहने के लिए सिर्फ दो शब्द याद रखो – शुभचिंतन और शुभचिंतक। शुभचिंतन से निगेटिव को पॉजिटिव में परिवर्तन कर सकते हो। शुभचिंतन और शुभचिंतक इन दोनों का आपस में संबंध है। अगर शुभचिंतन नहीं है तो शुभ चिंतक भी नहीं बन सकते। वर्तमान समय इन दोनों बातों का अटेन्शन रखो क्योंकि बहुत सी समस्यायें ऐसी हैं, लोग ऐसे हैं जो वाणी से नहीं समझते लेकिन शुभचिंतक बन वायब्रेशन दो तो बदल जायेंगे।
स्लोगन:- ज्ञान रत्नों से, गुणों और शक्तियों से खेलो, मिट्टी से नहीं।

TODAY MURLI 6 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 6 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 5 August 2019:- Click Here

06/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, continue to imbibe knowledge and, by the end, you will be equal to the Father and have digested all the Father’s strength.
Question: With the awareness of which pairs of words can you become spinners of the discus of self-realisation?
Answer: Rise and fall. Satopradhan and tamopradhan. The Temple of Shiva and the brothel. If you have these pairs of words in your awareness, you will become spinners of the discus of self-realisation. You children now have understood knowledge accurately. There is no knowledge on the path of devotion; they simply continue to tell you things to please your heart. The path of devotion is the path to please your heart.

Om shanti. The Father sits here and explains to you sweetest spiritual children. The Father says to you children: You were so elevated! This is a play of the rise and fall. It is now in your intellects that you were so elevated and pure. You have now become so low. You go in front of the deities and say: You are high and we are low. Previously, you didn’t know that you are the ones who become the highest on high and then the lowest of the low. The Father now tells you: Sweetest children, you were so elevated and pure and you have now become so impure. Those who are pure are said to be high. That is called the viceless world. Your kingdom existed there and you are now establishing that again. The Father simply gives you a signal: You were the residents of the highest Temple of Shiva, the golden age. Then, after half the cycle of taking birth after birth, you fell into vice and became impure and vicious. You remained vicious for half the cycle and you now have to become viceless and satopradhan. You just have to remember two words. This is now the tamopradhan world. Lakshmi and Narayan are signs of the satopradhan world. It is a matter of 5000 years. Your kingdom was in the satopradhan Bharat. Bharat was the very highest and it is now the lowest. It has taken you 84 births to become vicious from viceless. Although your degrees continue to decrease there too, it would still be said to be completely viceless. Shri Krishna would be said to be completely viceless. He was beautiful and has now become ugly. You are sitting here and so it should remain in your intellects that you were the masters of the world of Shivalaya. There were no other religions. There was just our kingdom and then it decreased by two degrees. The degrees gradually decreased and became two degrees lower in the silver age. You later became vicious and dirty, while gradually falling. This is called the vicious world. People continue to choke in the river of poison. There, you used to live in the ocean of milk. You have now understood the history and geography of the world and also the story of your 84 births. We were viceless when we were in their kingdom. There was the pure kingdom and that was called full heaven. Then, in the silver age, it became semi-heaven. You have this in your intellects. The Father Himself comes and explains to you the secrets of the beginning, middle and end of the world. Ravan came in the middle period. At the end, this vicious world is to be destroyed. Then, in order to go back to the beginning, you have to become pure. Consider yourselves to be souls and constantly remember Me alone. Do not consider yourselves to be bodies. You promised on the path of devotion: Baba, when You come I will belong to You alone. Souls speak to the Father. Krishna is not the Father. Only incorporeal Shiv Baba is the Father of souls. You receive a limited inheritance from a limited father and Bharat receives the unlimited inheritance from the unlimited Father. This is why the golden age is called Shivalaya. Shiv Baba came and established the deity religion. This should always be remembered. It is a matter of happiness. We are now going back to Shivalaya once again. When someone dies, people say that that person has gone to heaven. However, no one really goes there. All of those things are lies of the path of devotion to make your hearts happy. You are the ones who will truly go to heaven. There are no diseases etc. there. You remain constantly cheerful there. The Father makes everything so simple that it is as though He explains to little children. No matter where you live outside, you can claim a status. Purity is the first and main thing in this. Let your food and drink be pure. Do people ever offer bhog of cigarettes or tobacco etc. to the deities? Do they ever offer bhog of eggs or tobacco etc. in front of the Granth? They consider the Granth to be sacred, as though it is the body of Guru Gobind. They have so much regard for the Granth. Sikhs consider that to be as sacred as the body of their guru. However, Guru Nanak did not sit and write the Granth; Nanak simply incarnated. The number of Sikhs grew and they later wrote the Granth etc. After the one, many then continued to come into the Sikh religion. Previously, the Granth used to be very small and was handwritten. They now consider the Gita to be a form of Krishna. Just as there is the Granth of Guru Nanak, so the Gita of Krishna is remembered. They continue to say, “God Krishna speaks.” That is called ignorance. Only the one Supreme Father, the Supreme Soul, has knowledge. Salvation is only received through the Gita. Only the Father has that knowledge. There is day through knowledge and night through devotion. The Father now says: Souls have to be made pure, so effort has to be made for that. Such powerful storms of Maya come that this knowledge completely flies away. You are not then able to speak knowledge to others. Lust, the first vice, harasses you a great deal. It is that that takes time. Actually, it is a matter of liberation-in-life in just a second. As soon as a child is born, he becomes a master. You recognised that Shiv Baba had come and you claimed a right to the inheritance. The Gita was sung by Shiv Baba. He Himself said: Constantly remember Me alone. I enter this ordinary body. Krishna is not ordinary. When he takes birth, there is lightning all around. There is a lot of impact and this is why Shri Krishna is remembered even today. However, all the scriptures etc. belong to the path of devotion. In English, they are called philosophy. Only the spiritual Father can give spiritual knowledge. He Himself says: I am your spiritual Father. I am the Ocean of Knowledge. You children are studying with the Father. You are also imbibing knowledge. Then, at the end, you will become like the Father. Everything depends on how much you imbibe. You will develop that strength by having remembrance of the Father. Remembrance is called the power of sharpness. There is also a difference in swords. One sword can be bought for 100 rupees and another can be bought for three to four thousand rupees. Baba is experienced in this. A lot of regard is given to swords. So much regard is given to the sword of Guru Gobind. You children also need to have the strength of yoga. There also has to be power in the sword of knowledge. Only when there is that power will people understand quickly. You continue to make effort according to the drama. The more you remember the Father, the more your sins will be cut away through that remembrance. The Purifier Father is showing you methods. He will then come after a cycle and give you knowledge in the same way. He will make this one renounce everything and make him His chariot. You children experienced such a pull there that you all came running. There is that attraction of the Father. Now, you also have to become complete like that. You will become that, numberwise. Of course, a kingdom is being established! You have understood the world cycle from the beginning of the golden age to the end of the iron age. It is now the confluence age. The Father definitely has to come to make you pure. Pure means satopradhan. Alloy has gradually continued to be mixed into you. Now, how can that alloy be removed? When souls are real, the jewellery is also real, that is, the bodies are beautiful. When souls become false, the bodies too become impure. Even this one used to bow down and pray before knowledge. He used to keep a very big oil painting of Lakshmi and Narayan on a gaddi. He would remember that one with a lot of love. He didn’t remember anyone else. If his thoughts wandered anywhere else outside, he would slap himself. Why is the mind wandering? Why do I not receive a vision? He was on the path of devotion, but when he did have a vision of Vishnu, he didn’t become Narayan. Effort definitely has to be made. The aim and objective is standing just ahead. The one whose non-living images have been created used to exist in the living form. The Father has come to make you pure. He changes you from an ordinary man into Narayan. You too used to be in their kingdom. You are now making effort once again to become like that, and so you have to follow them very well. Brahma is not called a deity. To call Vishnu a deity is OK. People don’t know anything. They say: Guru Brahma, Guru Vishnu… Now, whose guru is Vishnu? They continue to call everyone a guru. They say: Salutations to the Supreme Soul, Shiva. They call this one a guru and that one the Supreme Soul. The Father is the greatest of all. We are learning this from Him in order to teach it to others. Whatever the Satguru explains to you, you then explain that to others. You would not say that your guru is your father and teacher; no. Therefore, you should have all of this knowledge in your intellects. We were in Shivalaya and we are now in the brothel. We now have to go to Shivalaya once again. Although they say that they merged into the brahm element or that the light merged into the light, souls are imperishable. Each one of you has your own part recorded in you. All of you are actors and you have to play your own parts. Those can never be erased. All the souls of the whole world have to play their parts. It is as though shooting is taking place anew. However, this eternal shooting has already taken place. The history and geography of the world repeat. This is a wonderful star that is sparkling in the centre of the forehead. It is never erased. Previously, you did not have this knowledge. Wonder of the world! Your hearts become happy on hearing the word “heaven. It isn’t the golden age now. It is now the iron age. Therefore, rebirth also takes place in the iron age. You all definitely have to go there, but impure souls cannot go there. You children are now becoming pure with the power of yoga. Only God, the Father, establishes the pure world. Then Ravan makes it into hell. This is visible. People burn an effigy of Ravan. They say that that has continued eternally, but no one knows when it began. Because they speak of hundreds of thousands of years, it cannot be divided into half and half. They say that the iron age is to last for 40,000 years. So people are in extreme darkness. It is very difficult for them to awaken from the sleep of ignorance; they just do not wake up. It is now the confluence age when the Father comes and shows you the way to become pure. When you become pure, the pure world will be established and this impure world will be destroyed. The world is now so large. In the golden age the world will be very small. You now definitely have to conquer Maya and become pure. The Father says: Maya is very powerful. It is in your becoming pure that she causes many obstacles. You maintain courage to become pure but just look at the condition that Maya makes you become! She punches you and knocks you down. So, everything you had earned is finished. You then have to make a lot of effort. Some fall and then don’t even show their faces. So, they cannot claim such a high status. Full effort has to be made. You should not fail. This is why some even have a pure marriage. Sannyasis say that it is impossible for a couple to get married and remain pure. The Father says: It is possible because there is a lot of attainment. If you become pure in this one, final birth, you will receive a kingdom in heaven. Can you not remain pure in this one birth for such a huge attainment? Children say: Baba, we will definitely remain pure. Sikhs still wear a bracelet of purity. There is no need to tie a thread etc. here. This is a matter of the intellect. The Father says: Constantly remember Me alone! Daughters relate knowledge to many, but it doesn’t sit in the intellects of those important people. The Father says: First of all, explain to them very clearly: All of these are the children of Prajapita Brahma. We are receiving the inheritance from Shiv Baba. We have to become pure from impure. The Father now says: Constantly remember Me alone. No one else can say this. First of all, you have to make this sit in their intellects: Bharat was viceless and it is now vicious, so how can it become viceless again? God speaks: Constantly remember Me alone! That is all! Even if you just say this much, that is great fortune. However, you won’t be able to say even this much; you will forget. Baba explained that the Father has carried out the inauguration and that you instruments are doing the rest. The foundation has been laid, but service stations are now being inaugurated. This is something that applies to the Gita. It also says in the Gita: O child, conquer lust and you will become the conqueror of the world for 21 births. Even if you don’t become this, at least explain it to others. There are many who uplift others but they then fall down themselves. Lust is the greatest enemy; it makes you fall right down into the gutter. Only the children who conquer lust will become conquerors of the world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep all your attainments in front of you in this final birth and definitely become pure. Do not be defeated by the obstacles of Maya.
  2. Keep your aim and objective in front of you and make full effort. Just as Father Brahma made effort and changed from an ordinary man into Narayan, so follow him and become seated on the throne. Make effort to make the soul satopradhan.
Blessing: May you have pure and positive thoughts for yourself and for others and transform negative into positive.
In order to remain constantly powerful, simply remember two things: Have pure and positive thoughts for yourself and for others. With pure and positive thoughts for yourself, you can transform negative into positive. Having pure and positive thoughts for yourself is connected to having pure and positive thoughts for others. If there are no pure and positive thoughts for yourself, you cannot have pure and positive thoughts for others. Pay attention to both of these at the present time because there are so many problems and people cannot understand you through words. So use your pure and positive thoughts and give them vibrations and they will then change.
Slogan: Play with the jewels of knowledge, virtues and powers, not with mud.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 6 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 6 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 5 August 2018 :- Click Here

06/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become fragrant flowers. Shri Krishna is the number one fragrant flower. This is why he is loved by everyone. Everyone places him on their eyes (has deep regard for him).
Question: Which worldly relationship is sweet and which do you call the sweetest?
Answer: In worldly relationships, it is the father who is said to be sweet. You children also say that your Father is extremely sweet and most lovely and that you are His lovely children. The Teacher is then said to be the sweetest because the Teacher teaches you. Knowledge is your source of income. You also receive knowledge first. While living at home with the family, you have to imbibe this knowledge and inspire others to imbibe it.
Song: To live in Your lane and to die in Your lane. 

Om shanti. You children heard the song. When a person dies, he takes birth to another set of parents and the father is congratulated. You children now know that souls are imperishable. That song refers to the bodies. You shed a body and take another, that is, you leave one father and go to another father. You have had 84 corporeal fathers. In fact, you are the children of the incorporeal Father. You souls are residents of the land of nirvana, the land of peace, where everyone resides with the Father. That is called the world of souls. You souls reside there and the Father also resides there. Here, you forget Him because you become children of worldly fathers. In the golden age, no one remembers the Father; their intellects are already down here. Here, when people remember Him, they say: O Baba! This one is also called Baba. This one is also a father. You see the worldly father here. When you call out to the Father from beyond, you look upward. You now belong to that Baba. You know that, at first, you were pure and had your fortune of the kingdom and that your 84 births are now coming to an end. You have become unhappy and this is why you remember the Father. This costume (body) has now become tamopradhan by being worn all the time. At first, both souls and bodies were satopradhan. Then the souls went through the stages of sato, rajo and tamo. At first they were golden, and then they went through the stages of silver, copper and iron. They are also called jewellery. Alloy is mixed into gold. The Father explains: You souls have now become impure and the gold has become tarnished. You have become ugly and impure. At first, you souls were pure and you had pure bodies. How will you now receive pure bodies? Is it by bathing? Nothing happens just by bathing. The souls call out: O Purifier Baba! The word ‘Baba’ is so sweet. It is very good. The word ‘Baba’ is only used in Bharat. You children continue to say, “Baba! Baba!” You children know that you have now become soul conscious and that you belong to the Father. The Father says: I first of all sent you to heaven. Having played your part s, you have now reached the end. Continue to say “Baba! “Baba!” internally. You children know that Baba has come. Everyone remembers Him: O Purifier Baba, come! Come and make us impure ones pure! They all call out in their own language. When the world becomes old, they call out, so He would surely come at the confluence age. Only you know this. They have written many confusing things in the scriptures. You children have the firm faith that Baba is your most belovedmost lovely Baba. Baba too says: Sweet childrenSweet, sweetersweetest ; who is sweet? In worldly relationships it is the father who is sweet. Then the teacher is said to be the sweetest. The teacher is good because he teaches you. It is said: Knowledge is a source of income. Therefore, this knowledge is also your source of income. Yoga is called remembrance and gyan is called knowledge. You children know that you were made into the masters of heaven. This is why people celebrate the birthday of Shiva. However, no one knows how Shiv Baba came. The Trimurti is shown in the pictures and Shiva is shown up above. “Establishment through Brahma”: who carries out establishment through Brahma? Shiv Baba is Karankaravanhar. Shiva is above Brahma, Vishnu and Shankar. That is the creation and their Creator is Shiva. He is incorporeal and this is the corporeal world. The world cycle continues to repeat. The subtle region is not called the world cycle. It is the human world that goes around, but there is no question of a cycle in the subtle region or the incorporeal world. It is now the iron age, hell, whereas the golden age is heaven. Who would make the residents of hell into residents of heaven? As soon as they go on to the path of sin, they become impure. Day by day, they continue to become unhappy from being happy. When the world becomes tamopradhan, it is said: This is a completely tamoguni (degraded) intellect. That is a completely satopradhan intellect, just like those of the deities. In fact, deities should be worshipped. However, no one at this time is a deity because no one has divine virtues. Christians know Christ and worship him. The people of Bharat cannot call themselves deities. Many people have the name, “Deity so-and-so”, “Deity so-and-so”, but they don’t have those virtues. It is sung: I am without virtue, I do not have any virtues. In front of whom do souls say this? They should say this in front of the Father. They have forgotten the Father and chase after the brothers. Brahma, Vishnu and Shankar are also brothers. You are not going to receive anything from them. They continue to worship brothers and continue to fall. You are to receive your inheritance from the Father. No one knows the Father. They call the Father omnipresent but what is the Father’s name? They say: He is beyond name and form. On the one hand, you say that He is a constant form of light, and so how can you say that He is beyond name and form? You understand that, according to the law, everyone has to become tamopradhan. Then, only when the Father comes can He make everyone satopradhan. Souls definitely have to become pure. All souls are going to reside with the Father. The new world had to become the old world. You know that you now belong to Baba and that Baba has come. He is carrying out establishment through Brahma. The Father says: I take the support of the body of Brahma. I ride in the lucky chariot. There would definitely be a soul in the chariot. It is said that Bhagirath brought the Ganges. How could the Ganges flow through locks of hair? That is just sweet water that flows from the mountains. Clouds fill themselves from the ocean and then rain. Nowadays, science has the power to make water sweet. Clouds rain so much naturally. So much water comes from them that there are even floods. Where does so much water come from? The clouds draw up that water. There is no Indra, no God of Rain, etc. Those are just the clouds that fill themselves and then rain. In fact, this is the rain of knowledge. This is knowledge, is it not? What happens through it? Impure ones become pure. The Rivers Ganges and Jamuna will also exist in the golden age. It is said that Krishna used to play games there. In fact, there was nothing like that. There, they sustain Krishna with a lot of care. He is a very good flower. A flower is so lovely. People receive fragrance from a flower. Would anyone take fragrance from thorns? This is the forest of thorns. The incorporeal Father says: I come and create the garden of flowers. This is why He is also called Babulnath (Lord of Thorns), the One who changes thorns into flowers. Babul changes the thorns into flowers. This is why His praise is sung: The Lord who changes thorns into flowers. So, there should be so much love for Baba. Even though souls have physical fathers, they remember the Father from beyond because they are very unhappy. This is also a game. You have been remembering the Father for half the cycle. It is because He comes that people celebrate the birthday of Shiva. You know that you have now become children of the unlimited Father. Your relationship is with that One as well as your physical fathers. The unlimited Father says: You will become pure by remembering Me. Each soul knows that this one is a physical father and that that One is the Father from beyond. Souls only call out to their Father from beyond. Souls say: O God! O, God, the Father! If the f ather were sitting at home, why would they call out: O Father? Souls remember that eternal Father. It is now that you understand when He comes and makes the world new. It is said that He surely comes at the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. People have then said that the duration of the iron age is hundreds of thousands of years. People wander around so much in order to attain God. Who does the most devotion? They should meet the Father first, should they not? The Father has explained: You are the ones who begin devotion first. You should receive knowledge first. Formerly, you were those who had devilish traits. You are now becoming deities with divine virtues. You are becoming the masters of such an elevated heaven. There, everything is firstclass. You become very important people. Palaces studded with diamonds and jewels will be built for you there. You cannot receive the inheritance from Shiv Baba until you become Brahmins. Shudras cannot claim the inheritance. This is the sacrificial fire in which Brahmins are definitely needed. A sacrificial fire is always conducted by a brahmin priest. Shiva is also called Rudra. Therefore, this is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Rudra Shiv Baba has created this sacrificial fire of knowledge. When devotion comes to an end, the sacrificial fire is created. Human beings create sacrificial fires on the path of devotion. In the golden age, deities never create sacrificial fires. However, this is the imperishable sacrificial fire of the knowledge of Rudra in which the horse is sacrificed to attain self-sovereignty. It has been remembered by this name even in the scriptures. Devotion and knowledge are half and half: devotion is the night and knowledge is the day. Baba explains this. Always continue to say, “Baba, Baba!” Baba is the One who makes us into the masters of the world. Baba is the most beloved. There cannot be anyone in the world lovelier than He is. You have been remembering the Father for half the cycle. You now know that you belong to that Father. The Father says: While living at home with your family, remember the Father. Not everyone can stay here. Yes, you can all stay with that Baba. Where? Which Baba? What is His name? Where will you stay with Shiv Baba? In the supreme abode. All souls can stay there. They cannot all stay here. Only a few would remain here. You children have to take knowledge here. This is a study. When you meet anyone, you should tell him: There are two fathers: the physical father and the Father from beyond. Everyone remembers the Father from beyond when they experience sorrow. That Father has now come. Shiv Baba is the most beloved. Krishna is also everyone’s most beloved. However, Shiv Baba is incorporeal whereas Krishna is corporeal. Krishna cannot be called the Father of everyone. He is a master of the world. It was Shiva who made him that. Both are lovely, but which one is the lovelier of the two? It would be said to be Shiva. Shiva Himself makes Krishna like that, but what does Krishna do? Nothing at all! Only the Father comes and makes the tamopradhan souls satopradhan. Therefore, He would be praised. Krishna is a child and they show his dance. What dance would Shiv Baba perform? The Father explains: All of you are Parvatis. Shiva, the Lord of Immortality, is telling you the story. There is no other Parvati. There isn’t just one Arjuna; all of you are Arjunas. All of you are Draupadis. It is Dushashan who strips women. This is why they call out: Baba, protect us! Baba says: Children, never be stripped. It is shown that when Draupadi was going to be stripped, Shri Krishna provided her with 21 sarees. Would anyone be able to wear 21 sarees? That is just a play they have shown where Krishna is giving her sarees from up above. How could anyone wear 21 sarees? In fact, the meaning of it is that the Father protects you from being stripped and you are therefore never stripped for 21 births. Achcha.

To the sweetest, sweet, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Continue to say internally, “Baba! Baba!” and become as sweet as Baba. Remain soul conscious. Pay full attention to the study.
  2. Remember the most lovely Father and definitely become pure. Remove the alloy of vices with the fire of remembrance and become pure gold.
Blessing: May yoube a victorious jewel who goes into the first division and claims a close seat through your equality.
As time comes closer, make yourself equal to the Father. To become equal to the Father in your thoughts, words, deeds, sanskars and service means to come close. Experience the Father’s company, His co-operation and His love in every thought. Constantly experience the Father’s company and your hand in His hand and you will go into the first division. Let there be constant remembrance of the Father and complete love for the one Father and you will become a victorious jewel in the rosary of victory. You still have a chance, the board of “too late ”, has not yet been put up.
Slogan: To be a bestower of happiness and do the service of liberating souls from sorrow and peacelessness is to be Sukhdev; a deity of happiness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 6 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 August 2018

To Read Murli 5 August 2018 :- Click Here
06-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – खुशबूदार फूल बनो, श्रीकृष्ण है नम्बरवन खुशबूदार फूल इसलिये सभी को बहुत प्यारा लगता है, सभी नयनों पर रखते हैं”
प्रश्नः- लौकिक में स्वीट सम्बन्ध कौन-सा है और स्वीटेस्ट किसे कहेंगे?
उत्तर:- लौकिक में भी स्वीट फादर को ही कहा जाता है। तुम बच्चे भी कहते हो हमारा अति मोस्ट लवली स्वीट फादर है, हम उसके लवली बच्चे हैं। स्वीटेस्ट फिर टीचर को कहेंगे क्योंकि टीचर पढ़ाई पढ़ाते हैं। नॉलेज सोर्स ऑफ इनकम है। तुमको भी पहले नॉलेज मिलती है। गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए इस नॉलेज को धारण करना और दूसरों को कराना है।
गीत:- मरना तेरी गली में….. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। जब कोई मरते हैं तो दूसरे माँ-बाप के पास जन्म लेते हैं। बाप को बधाई दी जाती है। अब तुम बच्चे जानते हो हम आत्मायें अविनाशी हैं। वह शरीर की बात है। एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं अर्थात् एक बाप को छोड़ दूसरे बाप के पास जाते हैं। तुमने 84 साकारी बाप लिये हैं। वास्तव में हो निराकार बाप के बच्चे। तुम आत्मायें रहने वाली भी निर्वाणधाम-शान्तिधाम की हो। जहाँ बाप के साथ सभी निवास करते हैं। उसे आत्माओं की दुनिया कहेंगे। तुम आत्मायें भी वहाँ रहती हो तो बाप भी वहाँ रहते हैं। यहाँ लौकिक बाप के बच्चे बनते हो तो उनको भूल जाते हो। सतयुग में तो बाप का कोई सिमरण नहीं करते हैं। बुद्धि नीचे आ जाती है। उनको याद करेंगे तो कहेंगे – ओ बाबा। इनको भी बाबा कहते हैं। वह भी फादर है। लौकिक बाप को यहाँ देखते हैं। पारलौकिक बाप को बुलाते हैं तो नज़र ऊपर जाती है। अभी तुम उस बाबा के बने हो। तुम जानते हो पहले हम पवित्र थे, राज्य-भाग्य किया, अब 84 जन्म पूरे हुए हैं। दु:खी हुए हैं इसलिये बाप को याद करते हैं। यह वस्त्र (शरीर) पहनते-पहनते अब तमोप्रधान बन गया है। पहले आत्मा और शरीर – दोनों सतोप्रधान थे। फिर आत्मा सतो, रजो, तमो में आती है। पहले गोल्डन थी फिर सिल्वर, कॉपर, आइरन में आये हैं। इसको जेवर भी कहा जाता है। सोने में खाद डालते हैं ना। बाप समझाते हैं अब तुम आत्मायें पतित हो गई हो। सोना काला हो गया है। तुम काले इमप्योर बन गये हो। पहले तुम आत्मा प्योर थी, शरीर भी प्योर था, अब फिर प्योर शरीर कैसे लेंगे? क्या स्नान करने से? स्नान करने से तो कुछ होता नहीं है। आत्मा पुकारती है – हे पतित-पावन बाबा। ‘बाबा’ अक्षर कितना मीठा है! बड़ा अच्छा है। भारत में ही ‘बाबा’ अक्षर है। बच्चे ‘बाबा-बाबा’ करते रहते हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो हम आत्म-अभिमानी बन बाप के बने हैं। बाप कहते हैं हमने पहले-पहले तुमको स्वर्ग में भेजा था। पार्ट बजाते-बजाते अभी अन्त में आकर पहुँचे हो। अन्दर में सदैव बाबा-बाबा कहते रहो। तुम बच्चे जानते हो बाबा आया हुआ है। उनको ही सभी याद करते हैं कि हे पतित-पावन बाबा आओ, हम पतितों को आकर पावन बनाओ। सभी अपनी-अपनी भाषा में पुकारते हैं। जब दुनिया पुरानी होती है तब पुकारते हैं। तो जरूर संगम पर ही आयेंगे। यह भी तुम जानते हो। शास्त्रों में तो अगड़म बगड़म बहुत लिख दिया है। तुम बच्चों को पक्का निश्चय है कि हमारा मोस्ट बिलवेड बाबा है, मोस्ट लवली बाबा है। बाबा भी कहते हैं स्वीट चिल्ड्रेन। स्वीट, स्वीटर, स्वीटेस्ट। अब स्वीट कौन है? लौकिक सम्बन्ध में भी फादर ही स्वीट होता है। फिर स्वीटेस्ट कहेंगे टीचर को। टीचर अच्छा होता है। फिर भी पढ़ाते हैं। कहा भी जाता है – नॉलेज इज सोर्स ऑफ इनकम। तो यह नॉलेज भी सोर्स ऑफ इनकम है।

योग को याद, ज्ञान को नॉलेज कहा जाता है। तुम बच्चे जानते हो – तुमको स्वर्ग का मालिक बनाया था। तब तो शिवजयन्ती मनाते हैं। परन्तु शिवबाबा कैसे आया – यह किसको भी पता नहीं है। चित्रों में त्रिमूर्ति है, शिव है ऊपर में। ब्रह्मा द्वारा स्थापना, स्थापना कौन कराते हैं? करनकरावनहार शिवबाबा है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर के ऊपर है शिव। वह हुई रचना। उनका रचता है शिव। वह निराकार है। यह है साकार सृष्टि। सृष्टि चक्र है, जो रिपीट होता है। सूक्ष्मवतन को सृष्टि का चक्र नहीं कहेंगे। यह मनुष्य सृष्टि ही चक्र लगाती है। बाकी न सूक्ष्मवतन में, न मूलवतन में चक्र की बात है। अभी है कलियुग नर्क। सतयुग है स्वर्ग। अब नर्कवासियों को स्वर्गवासी कौन बनावे? वाम मार्ग में जाने से ही पतित हो जाते हैं। दिन-प्रतिदिन सुख से दु:ख में आते जाते हैं। दुनिया तमोप्रधान बन जाती है, तब कहते हैं यह बिल्कुल ही तमोगुणी बुद्धि है। यह बहुत सतोप्रधान बुद्धि हैं, जैसे देवता समान हैं। वास्तव में पूजा देवताओं की होनी चाहिये। परन्तु देवता तो इस समय कोई हैं नहीं क्योंकि दैवीगुण उनमें हैं नहीं। क्रिश्चियन लोग क्राइस्ट को जानते हैं। उनको पूजते हैं। भारतवासी अपने को देवी-देवता कह नहीं सकते। नाम तो बहुतों के हैं – फलानी देवी, फलाना देवता। परन्तु वह गुण तो हैं नहीं। गाते भी हैं – मैं निर्गुण हारे में कोई गुण नाहीं…… आत्मा किसके सामने कहती है? बाप के सामने कहना चाहिये ना। बाप को भूल भाइयों के पीछे जाकर पड़े हैं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर भी ब्रदर्स हैं ना। उनसे कुछ भी मिलने का नहीं है। ब्रदर्स की पूजा करते रहते, नीचे गिरते जाते हैं। अब तुमको तो फादर से वर्सा मिलता है। फादर को कोई जानते नहीं। फादर को सर्वव्यापी कह देते हैं। अरे, फादर का नाम? कह देते हैं वह तो नाम-रूप से न्यारा है। अरे, तुम एक ओर अखण्ड ज्योति स्वरूप कहते हो फिर न्यारा कैसे कहते? यह भी समझते हैं – लॉ मुजीब सबको तमोप्रधान बनना ही है। फिर जब बाप आये तब सबको सतोप्रधान बनाये। आत्मा को प्योर जरूर होना है। सब आत्मायें बाप के साथ रहने वाली हैं। नई दुनिया सो पुरानी दुनिया होनी है।

तुम जानते हो अभी हम बाबा के बने हैं। बाबा आया हुआ है। ब्रह्मा द्वारा स्थापना कराते हैं। बाप कहते हैं मैं ब्रह्मा तन का आधार लेता हूँ। भाग्यशाली रथ में सवार होता हूँ। रथ में जरूर आत्मा तो होगी ना। कहते हैं भागीरथ ने गंगा लाई। अब गंगा जटाओं से कैसे आयेगी? यह तो पहाड़ों से मीठा पानी आता है। सागर से बादल भरकर फिर बरसते हैं। आजकल साइन्स की ताकत से पानी को मीठा बना देते हैं। नेचरल बादल कितने बरसते हैं। कितना पानी आ जाता है। बाढ़ हो जाती है। कहाँ से इतना पानी आता है? बादल ही खींचते हैं। बाकी इन्द्र आदि कुछ है नहीं। यह तो बादल भरकर फिर बरसते हैं। वास्तव में यह है ज्ञान की वर्षा। यह नॉलेज है ना। इनसे क्या होता है? पतित से पावन बनते हैं। गंगा-जमुना नदी सतयुग में भी तो होगी ही। कहते हैं कृष्ण वहाँ खेलपाल आदि करते थे। वास्तव में ऐसी कोई बात है नहीं। वहाँ तो कृष्ण की बहुत सम्भाल से पालना करते हैं। बहुत अच्छा फूल है ना। फूल कितना प्यारा लगता है। फूल से ही सुगन्ध लेते हैं। कांटे से कब सुगन्ध लेते हैं क्या? यह है ही कांटों का जंगल। निराकार बाप कहते हैं मैं आकर गॉर्डन ऑफ फ्लावर बनाता हूँ, इसलिए बबुलनाथ नाम भी रखते हैं। बबुल कांटों को फ्लावर बनाते हैं इसलिए महिमा गाई जाती है – कांटों को फूल बनाने वाला नाथ। तो बाबा से कितना लव होना चाहिए। लौकिक बाप होते भी आत्मा पारलौकिक बाप को याद करती है, क्योंकि दु:खी है। यह भी खेल है। तुम आधा कल्प से याद करते आये हो। वह आते हैं तब तो शिव जयन्ती मनाते हो। तुम जानते हो अभी हम बेहद के बाप के बच्चे बने हैं। हमारा सम्बन्ध उनसे भी है। लौकिक से भी है। बेहद का बाप कहते हैं मुझे याद करने से तुम पावन बन जायेंगे। आत्मा जानती है यह लौकिक बाप है, वह पारलौकिक बाप है। आत्मा पारलौकिक बाप को ही पुकारती है। आत्मा कहती है – हे भगवान्, ओ गॉड फादर। जब फादर घर में बैठा है तो फिर ओ फादर कह क्यों पुकारते हैं? आत्मा उस अविनाशी बाप को याद करती है। वह कब आकर नई दुनिया रचते हैं – यह भी तुम अभी समझते हो। जरूर कहेंगे कि कलियुग अन्त और सतयुग आदि के संगम पर आयेगा। कलियुग की आयु फिर लाखों वर्ष कह देते हैं। मनुष्य भगवान् को पाने के लिये कितना भटकते हैं। सबसे जास्ती भक्ति कौन करते हैं? उनको तो पहले मिलना चाहिए ना। बाप ने समझाया है पहले-पहले भक्ति तुम ही शुरू करते हो। तुमको ही पहले ज्ञान मिलना चाहिए। तुम पहले आसुरी गुणों वाले थे। अब तुम दैवी गुणवान देवता बनते हो। इतने ऊंचे स्वर्ग के तुम मालिक बनते हो। वहाँ की हर चीज फर्स्टक्लास होती है। तुम बहुत बड़े आदमी बनते हो। तुम्हारे लिये वहाँ हीरे-जवाहरों के महल बनेंगे।

जब तक ब्राह्मण न बने तब तक शिवबाबा से वर्सा मिल न सके। शूद्र वर्सा ले न सकें। यह यज्ञ है ना। इसमें ब्राह्मण जरूर चाहिये। यज्ञ हमेशा ब्राह्मणों का ही होता है। शिव को रुद्र भी कहा जाता है। तो यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। रुद्र शिवबाबा ने यह ज्ञान यज्ञ रचा हुआ है। भक्ति पूरी होती है तो यज्ञ रचा जाता है। मनुष्य यज्ञ रचते हैं भक्ति मार्ग में। सतयुग में देवतायें कभी यज्ञ आदि नहीं रचते। परन्तु यह है राजस्व अश्वमेध अविनाशी रुद्र ज्ञान यज्ञ। इस नाम से शास्त्रों में भी गायन है। भक्ति और ज्ञान आधा-आधा है। भक्ति है रात, ज्ञान है दिन। यह बाबा समझाते हैं। सदैव बाबा-बाबा करते रहो। बाबा हमको विश्व का मालिक बनाने वाला है। मोस्ट बिलवेड बाबा है। उनसे जास्ती प्यारा दुनिया में कोई हो नहीं सकता। आधाकल्प बाप को याद किया है। अब जानते हो उस बाप के हम बने हैं। बाप कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते बाप को याद करो। सब तो यहाँ रह न सकें। हाँ, उस बाबा के पास रह सकते हो। कहाँ? कौन सा बाबा? उसका नाम? शिवबाबा पास कहाँ रहेंगे? परमधाम में। वहाँ सभी आत्मायें रह सकती हैं। यहाँ तो नहीं रह सकती। यहाँ तो थोड़े ही रहेंगे। यहाँ तो तुम बच्चों को नॉलेज लेनी है। यह पढ़ाई है ना।

कोई भी मिलते हैं तो उनको यह बताना चाहिए कि दो बाप हैं – लौकिक और पारलौकिक। दु:ख में पारलौकिक बाप को ही याद करते हैं। वह बाप अब आया हुआ है। मोस्ट बिलवेड शिवबाबा है। कृष्ण भी सबका मोस्ट बिलवेड है। परन्तु शिवबाबा है निराकार और कृष्ण है साकार। कृष्ण को सबका बाप नहीं कहेंगे। वह है विश्व का मालिक। उनको भी बनाने वाला शिव है। दोनों ही प्यारे हैं। परन्तु दोनों में जास्ती प्यारा कौन है? कहेंगे शिव। शिव ही कृष्ण को ऐसा बनाते हैं। बाकी कृष्ण क्या करते हैं? कुछ भी नहीं। तमोप्रधान आत्माओं को बाप ही आकर सतोप्रधान बनाते हैं। तो गायन उनका ही होगा ना। कृष्ण तो बच्चा है, उनका डांस आदि दिखाते हैं। शिवबाबा क्या डांस करेंगे? बाप समझाते हैं तुम सब पार्वतियां हो। शिव अमरनाथ तुमको कथा सुना रहे हैं। दूसरी कोई पार्वती है नहीं। अर्जुन भी एक नहीं, तुम सब अर्जुन हो। द्रोपदियां भी तुम सब हो। वह दुशासन हैं जो नंगन करते हैं। तब पुकारते हैं बाबा हमारी रक्षा करो। बाबा कहते हैं – बच्चे, नंगन कभी नहीं होना। दिखाते हैं ना जब द्रोपदी को नंगन कर रहे थे तो फिर कृष्ण ने उनको 21 चीर दिये। अब 21 साड़ी पहनी जाती हैं क्या? यह भी जैसे एक खेल दिखाते हैं। कृष्ण ऊपर से साड़ियां देते जाते हैं। अब 21 साड़ियां कैसे पहन सकेंगे? वास्तव में अर्थ यह है – बाप नंगन होने से ऐसा बचाते हैं जो तुम 21 जन्म कभी नंगन नहीं होते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे स्वीट चिल्ड्रेन प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अन्दर में बाबा-बाबा कहते बाबा समान स्वीट बनना है। आत्म-अभिमानी होकर रहना है। पढ़ाई पर पूरा ध्यान देना है।

2) मोस्ट लवली बाप को याद कर पावन जरूर बनना है। याद की अग्नि से विकारों की खाद निकाल सच्चा सोना बनना है।

वरदान:- समानता द्वारा समीपता की सीट ले फर्स्ट डिवीजन में आने वाले विजयी रत्न भव
समय की समीपता के साथ-साथ अब स्वयं को बाप के समान बनाओ। संकल्प, बोल, कर्म, संस्कार और सेवा सबमें बाप जैसे समान बनना अर्थात् समीप आना। हर संकल्प में बाप के साथ का, सहयोग का स्नेह का अनुभव करो। सदा बाप के साथ और हाथ में हाथ की अनुभूति करो तो फर्स्ट डिवीजन में आ जायेंगे। निरन्तर याद और सम्पूर्ण स्नेह एक बाप से हो तो विजय माला के विजयी रत्न बन जायेंगे। अभी भी चांस है, टूलेट का बोर्ड नहीं लगा है।
स्लोगन:- सुखदाता बन अनेक आत्माओं को दु:ख अशान्ति से मुक्त करने की सेवा करना ही सुखदेव बनना है।

TODAY MURLI 6 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 6 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 5 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 06/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

06/08/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
02/05/82

The basis of creating a special life story is to have a constantly flying stage.

Today, BapDada is looking at the life story of every child and seeing the line of fortune in each one’s life story. Have you constantly and steadily been progressing or have you been fluctuating while moving along? Both types of line, that is, both activities of life were visible. After ascending, if for any reason you go from the stage of ascent into the stage of descent, then the impact of coming down pulls you to itself. For instance, the impact of the stage of ascent for a long period of time enables you to have attainment for a long period of time. Those who have an easy yogi life are constantly close to the Father and experience His company. By constantly considering yourself to be a master of all powers, you easily become an embodiment of remembrance. Although adverse situations and tests may come, you constantly experience yourself to be a destroyer of obstacles. Even if you experience the stage of ascent and a powerful stage for a long time, if there is the stage of descent after that stage of ascent, you won’t be able to have that experience naturally and easily. You would only be able to have that experience after paying special attention and making special effort. To have the stage of ascent constantly means to be one who has already attained all attainments. Those who fluctuate after being in a constantly ascending stage, those who lose something and then regain it, souls who continue to fluctuate, experience having attained something but then lose it. Then, because they have already experienced having attained it, they cannot stay without attaining that stage again. And so, after paying special attention, they experience it again. However, instead of being in the list of those who constantly and easily experience this, they go into the list of those who are the second number. They don’t come in the list of those who pass with honours but in the list of those who pass. You can consider for yourselves what the life story of the third category would be! You wouldn’t want to be in the third number, would you?

Make your life story so elevated that there is constant progress in the stage of ascent, that you are full of all specialities and a constant embodiment of attainment. Don’t play the game of going up and coming down, going up one moment and coming down the next, or of going up above for some time and then coming down for some time, and tin that way let go of your rights for all time. Today, BapDada is seeing each one’s life story. So, how many are there who constantly have the ascending stage – and who are they? You can know for yourself which list you are in. Situations and tests come to everyone of you to bring you down; no one can pass without taking an exam! However, 1) there is a difference between fully passing a test by being an embodiment of the awareness of a detached observer and a companion, and just passing or to pass under compulsion. 2) the difference is created by considering a difficult test to be a trivial thing and to consider a trivial matter to be a big thing. 3) some think and speak about even something trivial and spread it into the atmosphere and make it into a very big thing. Others check a big thing and, at the same time, change it and put a ful stop to that weak situation for all time. To put a full stop means to accumulate once again a full stock for the future, and to claim a right to passing fully in the future. Such ones become fortunate in having the ascending stage for a long time. So, do you understand what speciality you have to keep in your life story? Through this you will constantly have a special life story. The life stories of some give special inspiration and increase your enthusiasm and courage. They make you experience the path of life to be clear. In the same way, let the life story of each of you special souls, that is, let every action of your life, give many souls this experience. Let the sound emerge from everyone’s mouth and mind: “Since the instrument soul is able to do that, I shall also do it. I shall also move forward. I shall also enable everyone to move forward.” Constantly create such a life story that it becomes worthy of inspiring others. Do you understand what you have to do? Achcha.

Today is the day of meeting the double foreigners. On the one hand, it is the meeting of those from abroad and on the other hand, it is the meeting of those who are very close (Madhuban residents). It is the special meeting of both of you. All others have come into the gallery just to observe. Therefore, BapDada maintained regard for all of those who have come and He spoke the murli for those who have come. Achcha.

To those who constantly put the essence of the meetings into their lives, to those who consider the special signals to be a blessing in their lives for all time, to those who become bestowers of blessings, to those who are constantly embodiments of awareness of the slogan, “To listen means to become and to meet means to become equal”, to those who give the return of love and constantly co-operate to make everyone free from obstacles, to those who are constant embodiments of experience and fill others with the speciality of experience, to those who are constantly complete and equal to the Father, to such elevated souls, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting Didiji:

Are all of you, who have become instruments to act as the Father’s arms, doing your work accurately? All of you are the arms, are you not? Are all of you right hands , or are some of you left hands? You call yourselves Brahmins; are all of you right hands? Or, even amongst Brahmins, are some of you left hands and some of you right hands? (Brahmins sometimes become right hands and sometimes left hands.) So, do the arms also change? They actually they show Ravan’s heads being chopped off one moment and being replaced by others. However, amongst Brahmins too, do the arms of Brahma keep changing? That would then mean that the arms change every day!

In fact, all of you call yourselves Brahma Kumars and Kumaris, but you yourselves realise inside that you are not those who eat instant, visible fruit, but those who eat the fruit of labour. There is this difference, is there not? Some eat instant, visible fruit whereas others eat the fruit of labour. There is no need for a lot of labour. Simply continue to create every thought and perform every act on the basis of determination and shrimat and there won’t be any question of having to labour. Because of not following these two things, it is as though the train becomes derailed and it then becomes very difficult to move forward. When the train is on the rails, there is no need to labour. The engine makes the train move and it moves along. Therefore, pay a lot of attention in both – having determination and also following shrimat – for if there is anything lacking in your determination, what would the result be? You would eat the fruit of labour. Those who eat such fruit of labour go into the line of warriors. Whenever you ask them anything, they would only tell you about something laborious or difficult. As you were told earlier, when you remove one thing, it is replaced by something else. When you remove the mouse, the cat comes; when you remove the cat, the dog comes and so on. You then remain constantly engaged in just removing them. Three religions are being established at the same time: Brahmin, deity and warrior. So, all three types would be visible, would they not? Some have taken birth with a lot of labour (effort). Some had to labour a lot since childhood. These, too, are different types of lines of fortune. If you ask some, they say that, from the beginning, they haven’t had to labour at all. They say: “I have to follow shrimat and become a yogi.” They have become embodiments of this aim naturally. It isn’t that they are careless, but they move along having become natural embodiments of that. Those who are careless do not experience having to labour, but that is in the wrong way. Their future is not created; they don’t experience the attainment of becoming equal to the Father. From the moment of their birth they are careless; they just eat, drink and lead a life of purity and follow the disciplines (timetable), but they don’t imbibe anything in their lives. They are worshipped here as lords of discipline. They are just lords of discipline. They are the first ones for yoga and class, but what do they attain? They say that they have heard everything. They don’t have the aim to move forward or help others move forward. They listen and enjoy themselves, and that is fine! They just come and go; they eat and then leave. Such souls are called lords of discipline. Nevertheless, even such souls are worshipped. At least they do everything according to the disciplines. As a result of that they become worthy of worship. When it rains, other special souls may not come, but such souls definitely come. They do nevertheless remain pure and they therefore definitely become worthy of worship. Such ones are also needed. They may have been coming here for 10 years, but when you ask them a question, then, even after 10 years, they give the same reply that they gave on their first day. Achcha.

Now Bap and Dada chit-chat a lot in the subtle region. Both are independent souls. They do service in a second and give everyone an experience, but what do they do between the two of them? They continue to have heart-to-heart conversations. Ever since the first day of his birth, Brahma Baba had a desire. What was that? He constantly had the spiritual concern and intoxication of definitely becoming equal to the Father. Do you remember the words of Brahma from the beginning? “I am coming, I am merging.” He constantly spoke these words of intoxication in his thoughts and words from the time he took birth. Then, as per his words from the beginning, having finished all the work, he became merged in the form of the aim that he had had. At first he didn’t understand it, but the predestined destiny was being foretold. What did you see at the end? How did he let go of the bondage of the corporeal form and become equal to the Father? He shed the old skin just as a snake does. And how long did that game take? It was a game of just a few moments, was it not? This is known as becoming equal to the Father and easily letting go of gross feelings and becoming a destroyer of attachment and an embodiment of remembrance. Did he have such thoughts as, “I am going. What is happening?” The children were in front of him, but, while seeing them he didn’t see them. He was just light and might and, having given the drishti of being equal he flew away like a flying bird. This was what you experienced, was it not? His flight was so easy that those who were watching simply remained watching and he, who was flying, flew away. This is known as speaking those words in the beginning and becoming the form of them at the end. Follow the f ather in the same way. Achcha.

[wp_ad_camp_5]

 

BapDada meeting double foreigners:

You are all loving and co-operative souls, are you not? You recognised the Father because of love and you became co-operative souls. Therefore, you are loving and co-operative. You constantly have zeal and enthusiasm for service, but what else remains? Together with being loving and co-operative, constantly be an embodiment of power. A powerful soul is constantly a destroyer of obstacles, and those who are destroyers of obstacles are automatically seated on the Father’s heart throne. It is one or other of Maya’s obstacles that takes you off the throne. So, if Maya didn’t come, you would be constantly seated on the throne. To overcome this, constantly consider yourself to be combined. Experience the Father’s company in every different relationship, in every action. You will then constantly be in His company, you will be constantly powerful and will also experience yourself to be feeling constantly entertaining. You will not experience any type of loneliness, because those who stay with the Father in different relationships constantly experience being entertaining and happiness. In any case, if something is the same every day, if you listen to or do the same thing every day, the heart becomes unhappy. Therefore here, too, when you experience different relationships with the Father, there will be constant zeal and enthusiasm. Don’t just experience the relationship of the Father and child, but experience all the different relationships. When you come to Madhuban, you experience entertainment within yourself and you also experience the company. Similarly, you will find that you are not even aware of how day changes into night and night changes into day. In any case, those from abroad like change. Therefore, here, too, you have a very good chance to have different experiences from One.

Meeting a group:

The speciality of a mahavir is constantly to belong to the one Father and none other.

Do you constantly consider yourself to be a mahavir? The speciality of Mahavir (Hanuman) was that he constantly remembered one Rama alone and no one else. Those who constantly have the awareness of belonging to the one Father and none other are constantly mahavirs. Let the tilak of victory be constantly applied. When you belong to the one Father and none other, the tilak will become imperishable. The Father has become the whole world. There are just people and things in the world. Therefore, all relationships are with the Father – and people are included in this – and, when it comes to things, you have received all attainments from the Father. You have received all the attainments of happiness, peace, knowledge, bliss, love, etc. Since nothing else remains, where else would the intellect go? How could it go anywhere else? Achcha.

Blessing: May you die alive in the right way by dying alive to any attraction of the old world and old sanskars.
To die alive in the right way means constantly to die to the old world and the old sanskars in your thoughts and in your dreams. To die means to transform. No attraction can attract such souls to itself. Such souls can never say, “What can I do? I didn’t want to do that, but it happened.” Some children die alive and then become alive again; you cut off one head of Ravan and another one comes. But when you finish the foundation, Maya cannot then change her form and attack you.
Slogan: Those who remain constantly busy in remembrance and service are the luckiest of all.


*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

Read Bk Murli 4 August 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 6 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 August 2017

 August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 5 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 06/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

06/08/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
02-05-82

विशेष जीवन कहानी बनाने का आधार – सदा चढ़ती कला

बापदादा हरेक बच्चे की जीवन कहानी देख रहे हैं। हरेक की जीवन कहानी में क्या-क्या तकदीर की रेखायें रही हैं। सदा एकरस उन्नति की ओर जाते रहे हैं वा उतराई और चढ़ाई में चल रहे हैं! ऐसे दोनों प्रकार की लकीर अर्थात् जीवन की लीला दिखाई दी। जब चढ़ाई के बाद किसी भी कारणवश चढ़ती कला के बजाए उतरती कला में आते हैं तो उतरने का प्रभाव भी अपनी तरफ खींचता है। जैसे बहुतकाल की चढ़ती कला का प्रभाव बहुतकाल की प्राप्ति कराता है। सहज योगी जीवन वाले, सदा बाप के समीप और साथ की अनुभूति करते हैं। सदा स्वयं को सर्व शक्तियों में मास्टर समझने से सहज स्मृति स्वरूप हो जाते हैं। कोई भी परिस्थितयाँ वा परीक्षायें आते हुए सदा अपने को विघ्न-विनाशक अनुभव करते हैं। तो जैसे बहुतकाल की चढ़ती कला का, बहुतकाल ऐसी शक्तिशाली स्थिति का अनुभव करते हैं ऐसे चढ़ती कला के बाद फिर उतरती कला होने से स्वत: और सहज यह अनुभव नहीं होते। लेकिन विशेष अटेन्शन, विशेष मेहनत करने के बाद यह सब अनुभव करते हैं। सदा चढ़ती कला अर्थात् सदा सर्व प्राप्ति को पाई हुई मूर्ति। और चढ़ने के बाद उतरने और फिर चढ़ने वाले गँवाई हुई वस्तु को फिर पाने वाले, ऐसे उतरने-चढ़ने वाली आत्मायें अनुभव करती हैं कि पाया था लेकिन खो गया। और पाने के अनुभवी होने के कारण फिर से उसी अवस्था को पाने के बिना रह भी नहीं सकते, इसलिए विशेष अटेन्शन देने से फिर से अनुभव को पा लेते हैं लेकिन सदाकाल और सहज की लिस्ट के बजाए दूसरे नम्बर की लिस्ट में आ जाते हैं। पास विद आनर नहीं लेकिन पास होने वालों की लिस्ट में आ जाते हैं। तीसरे नम्बर की तो बात स्वयं ही सोच सकते हो कि उसकी जीवन कहानी क्या होगी। तीसरा नम्बर तो बनना ही नहीं है ना?

अपनी जीवन कहानी को सदा उन्नति की ओर बढ़ने वाली सर्व विशेषताओं सम्पन्न, सदा प्राप्ति स्वरूप ऐसा श्रेष्ठ बनाओ। अभी-अभी ऊपर, अभी-अभी नीचे वा कुछ समय ऊपर कुछ समय नीचे ऐसे उतरने-चढ़ने के खेल में सदा का अधिकार छोड़ नहीं देना। आज बापदादा सभी की जीवन कहानी देख रहे थे। तो सदा चढ़ती कला वाले कितने होंगे और कौन होंगे? अपने को तो जान सकते हो ना कि मैं किस लिस्ट में हूँ! उतरने की परिस्थितियाँ, परीक्षायें तो सबके सामने आती हैं, बिना परीक्षा के तो कोई भी पास नहीं हो सकता लेकिन 1. परीक्षा में साक्षी और साथीपन के स्मृति स्वरूप द्वारा फुल पास होना वा पास होना वा मजबूरी से पास होना इसमें अन्तर हो जाता है। 2. बड़ी परीक्षा को छोटा समझना वा छोटी-सी बात को बड़ा समझना इसमें अन्तर हो जाता है। 3. कोई छोटी-सी बात को ज्यादा सिमरण, वर्णन और वातावरण में फैलाए इससे भी छोटे को बड़ा कर देते हैं। और कोई फिर बड़ी को भी चेक किया तो साथ-साथ चेन्ज किया और सदा के लिए कमजोर बात को फुल स्टाप लगा देते हैं! फुल स्टाप लगाना अर्थात् फिर से भविष्य के लिए फुल स्टाक जमा करना। आगे के लिए फुल पास के अधिकारी बनना। तो ऐसे बहुतकाल की चढ़ती कला के तकदीरवान बन जाते हैं। तो समझा जीवन कहानी की विशेषता क्या रखनी है! इससे सदा आपकी विशेष जीवन कहानी हो जायेगी! जैसे कोई की जीवन कहानी विशेष प्रेरणा दिलाती है, उत्साह बढ़ाती है, हिम्मत बढ़ाती है, जीवन के रास्ते को स्पष्ट अनुभव कराती है, ऐसे आप हर विशेष आत्मा की जीवन कहानी अर्थात् जीवन का हर कर्म अनेक आत्माओं को ऐसे अनुभव करावे। सबके मुख से, मन से यही आवाज निकले कि जब निमित्त आत्मा यह कर सकती है तो हम भी करें। हम भी आगे बढ़ेंगे। हम भी सभी को आगे बढ़ायेंगे, ऐसी प्रेरणा योग्य विशेष जीवन कहानी सदा बनाओ। समझा – क्या करना है? अच्छा।

आज तो डबल विदेशियों के मिलने का दिन है। एक तरफ है विदेशियों का और दूसरे तरफ है फिर बहुत नजदीक वालों (मधुबन निवासियों) का। दोनों का विशेष मिलन है। बाकी तो सब गैलरी में देखने के लिए आये हैं इसलिए बापदादा ने आये हुए सब बच्चों का रिगार्ड रख मुरली भी चलाई। अच्छा।

सदा मिलन-जीवन के सार को जीवन में लाने वाले, विशेष इशारों को अपने जीवन का सदाकाल का वरदान समझ, वरदानी मूर्त बनने वाले, सुनना अर्थात् बनना, मिलना अर्थात् समान बनना – इसी स्लोगन को सदा स्मृति स्वरूप में लाने वाले, स्नेह का रिटर्न सदा निर्विघ्न बनाने का सहयोग देने वाले, सदा अनुभवी मूर्त बन सर्व में अनुभवों की विशेषता भरने वाले, ऐसे सदा बाप समान सम्पन्न, श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

दीदी जी के साथ:- सभी बाप की निमित्त बनी हुई भुजायें अपना-अपना कार्य यथार्थ रूप में कर रहीं हैं? यह सभी भुजायें हैं ना? तो सभी राइटहैण्ड हैं वा कोई लेफ्ट हैण्ड भी हैं? जो स्वयं को ब्राह्मण कहलाते हैं, ऐसे ब्राह्मण कहलाने वाले सब राइट हैण्ड हैं या ब्राह्मणों में ही कोई लेफ्ट हैण्ड हैं, कोई राइट हैण्ड हैं? (ब्राह्मण कभी राइट हैण्ड बन जाते कभी लेफ्ट हैण्ड) तो भुजायें भी बदली होती हैं क्या। वैसे तो रावण के शीश दिखाते हैं – अभी-अभी उड़ा, अभी-अभी आ गया। लेकिन ब्राह्मणों में भी ब्रह्मा की भुजायें बदली होती रहती हैं क्या? ऐसे तो फिर रोज़ भुजायें बदलती होंगी?

वास्तव में ब्रह्माकुमार और ब्रह्माकुमारी कहलाते तो सब हैं लेकिन अन्दर में वह स्वयं महसूस करते हैं कि हम प्रत्यक्षफल खाने वाले नहीं हैं, मेहनत का फल खाने वाले हैं। यह भी अन्तर है ना। कोई प्रत्यक्षफल खाने वाले हैं और कोई मेहनत का फल खाने वाले हैं। बहुत मेहनत की आवश्यकता नहीं है। सिर्फ दृढ़ संकल्प और श्रीमत – इसी आधार पर हर संकल्प और कर्म करते चलो तो मेहनत की कोई बात ही नहीं। इन दोनों ही आधार पर न चलने के कारण जैसे गाड़ी पटरी से उतर जाती है फिर बहुत मुश्किल होता है। अगर गाड़ी पटरी पर चल रही है तो कोई मेहनत नहीं, इंजन चला रहा है, वह चल रही है। तो इन दोनों आधार में से, चाहे दृढ़ संकल्प, चाहे श्रीमत पर चलें, बहुत अटेन्शन रखें लेकिन दृढ़ संकल्प की कमजोरी हो तो इसकी रिज़ल्ट क्या होगी? मेहनत का फल खायेंगे। ऐसे मेहनत का फल खाने वाले भी क्षत्रिय की लाइन में आ गये। जब भी उनसे कोई बात पूछो तो मेहनत या मुश्किल की बात ही सुनायेंगे। जैसे सुनाया था एक बात को निकालते तो दूसरी आ जाती, चूहे को निकालो तो बिल्ली आ जाती, बिल्ली को निकालते तो कुत्ता आता…. ऐसे निकालने में ही लगे रहते हैं। तीन धर्म साथ-साथ स्थापन हो रहे हैं ना, ब्राह्मण, देवता और क्षत्रिय। तो तीनों ही प्रकार के दिखाई देंगे ना। कईयों का तो जन्म ही बहुत मेहनत से हुआ है। और कइयों ने बचपन से ही मेहनत करना आरम्भ किया है। यह भी भिन्न-भिन्न प्रकार तकदीर की लकीरें हैं। कोई से पूछेंगे तो कहेंगे हमने शुरू से कोई मेहनत नहीं की। श्रीमत पर चलना है, योगी बनना है यह स्वत: लक्ष्य स्वरूप हो गया। ऐसे नहीं अलबेले होंगे लेकिन स्वत: स्वरूप बन करके चलते हैं। अलबेले भी मेहनत नहीं महसूस करते हैं लेकिन वह है उल्टी बात। उसका फिर भविष्य नहीं बनता है। बाप समान प्राप्ति का अनुभव नहीं करते हैं। बाकी जन्म से अलबेले बस खाया, पिया और अपनी पवित्र जीवन बिताई, नियम-प्रमाण चलने वाले लेकिन धारणा को जीवन में लाने वाले नहीं। उनका भी यहाँ नेमीनाथ के रूप में गायन होता है। तो कई सिर्फ नेमीनाथ भी हैं। योग में, क्लास में आयेंगे सबसे पहले। लेकिन पाया क्या? कहेंगे हाँ सुन लिया। आगे बढ़ना-बढ़ाना वह लक्ष्य नहीं होगा। सुन लिया मजा आ गया, ठीक है। आया, गया, चला, खाया – ऐसे को कहेंगे नेमीनाथ। फिर भी ऐसों की भी पूजा होती है। इतना तो करते हैं कि नियम प्रमाण चल रहे हैं। उसका भी फल पूज्य बन जाते हैं। बरसात में अनन्य नहीं आयेंगे लेकिन वह जरूर आयेंगे। फिर भी पवित्र रहते हैं इसलिए पूज्य जरूर बन जाते हैं। ऐसे भी तो चाहिए ना। दस वर्ष भी हो जायेंगे – तो भी अगर उनसे कोई बात पूछो तो पहले दिन का जो उत्तर होगा वही 10 वर्ष के बाद भी देंगे। अच्छा।

अभी बापदादा वतन में बहुत चिटचैट करते हैं। दोनों स्वतंत्र आत्मायें हैं। सेवा तो सेकण्ड में किया, सर्व को अनुभव कराया फिर आपस में क्या करेंगे? रूहरिहान करते रहते हैं। ब्रह्मा बाप की यही जन्म के पहले दिन की आशा थी। कौन-सी? सदा यह फ़खुर और नशा रहा कि मैं भी बाप समान जरूर बनूँगा। आदि के ब्रह्मा के बोल याद हैं? आ रहा हूँ, समा रहा हूँ, यही सदा नशे के बोल जन्म के संकल्प और वाणी में रहे। तो यही आदि के बोल अब कार्य समाप्त कर जो लक्ष्य रखा है उसी लक्ष्य रूप में समा गये। पहले अर्थ मालूम नहीं था लेकिन बनी हुई भावी पहले से बोल रही थी। और लास्ट में क्या देखा? बाप समान व्यक्त के बन्धन को कैसे छोड़ा! सांप के समान पुरानी खाल छोड़ दी ना! और कितने में खेल हुआ? घड़ियों का ही खेल हुआ ना। इसको कहा जाता है बाप समान व्यक्त भाव को भी सहज छोड़ नष्टोमोहा स्मृति स्वरूप। यह संकल्प भी उठा – मैं जा रहा हूँ, क्या हो रहा है! बच्चे सामने हैं लेकिन देखते भी नहीं देखा। सिर्फ लाइट माइट, समानता की दृष्टि देते उड़ता पंछी उड़ गया। ऐसे ही अनुभव किया ना! कितनी सहज उड़ान हुई, जो देखने वाले देखते रहे और उड़ने वाला उड़ गया। इसको कहा जाता है आदि में यही बोल और अन्त में वह स्वरूप हो गया। ऐसे ही फालो फादर। अच्छा।

[wp_ad_camp_5]

 

डबल विदेशियों के साथ:- सभी स्नेही और सहयोगी आत्मायें हो ना! स्नेह के कारण बाप को पहचाना और सहयोगी आत्मा हो गये। तो स्नेही और सहयोगी हो, सेवा का उमंग-उत्साह सदा रहता है लेकिन बाकी क्या रह गया? स्नेही-सहयोगी के साथ सदा शक्ति स्वरूप। शक्तिशाली आत्मा सदा विघ्न-विनाशक होगी और जो विघ्न-विनाशक होंगे वह स्वत: ही बाप के दिलतख्तनशीन होंगे। तख्त से नीचे लाने वाला है ही माया का कोई-न-कोई विघ्न। तो जब माया ही नहीं आयेगी तो फिर सदा तख्तनशीन रहेंगे। उसके लिए सदा अपने को कम्बाइन्ड समझो। हर कर्म में भिन्न-भिन्न सम्बन्ध से साथ का अनुभव करो। तो सदा साथ में रहेंगे, सदा शक्तिशाली भी रहेंगे और सदा अपने को रमणीक भी अनुभव करेंगे। किसी भी प्रकार का अकेलापन नहीं महसूस करेंगे क्योंकि भिन्न-भिन्न सम्बन्ध में साथ रहने वाले सदा रमणीक और खुशी का अनुभव करते हैं। वैसे भी जब सदा एक ही बात होती है, एक ही बात रोज़-रोज़ सुनो वा करो तो दिल उदास हो जाती है। तो यहाँ भी बाप के साथ भिन्न-भिन्न सम्बन्धों का अनुभव करने से सदा उमंग-उत्साह बना रहेगा। सिर्फ बाप है, मैं बच्चा हूँ – यह नहीं, भिन्न-भिन्न सम्बन्ध का अनुभव करो। तो जैसे मधुबन में आने से ही अपने को मनोरंजन में अनुभव करते हो और साथ का अनुभव करते हो, ऐसे ही अनुभव करेंगे कि पता नहीं दिन से रात, रात से दिन कैसे हुआ। वैसे भी विदेशी लोग चेन्ज पसन्द करते हैं। तो यहाँ भी एक द्वारा भिन्न-भिन्न अनुभव करने का बहुत अच्छा चांस है।

(पार्टियों से)

महावीर की विशेषता – सदा एक बाप दूसरा न कोई

सदा अपने को महावीर समझते हो? महावीर की विशेषता – एक राम के सिवाए और कोई याद नहीं! तो सदा एक बाप दूसरा न कोई, ऐसी स्मृति में रहने वाले सदा महावीर। सदा विजय का तिलक लगा हुआ हो। जब एक बाप दूसरा न कोई तो अविनाशी तिलक रहेगा। संसार ही बाप बन गया। संसार में व्यक्ति और वस्तु ही होती, तो सर्व सम्बन्ध बाप से, तो व्यक्ति आ गये और वस्तु, वह भी सर्व प्राप्ति बाप से हो गई। सुख-शान्ति-ज्ञान-आनन्द-प्रेम.. सर्व प्राप्तियाँ हो गई। जब कुछ रहा ही नहीं तो बुद्धि और कहाँ जायेगी, कैसे? अच्छा।

वरदान:- पुराने संसार और संस्कारों की आकर्षण से जीते जी मरने वाले यथार्थ मरजीवा भव 
यथार्थ जीते जी मरना अर्थात् सदा के लिए पुराने संसार वा पुराने संस्कारों से संकल्प और स्वप्न में भी मरना। मरना माना परिवर्तन होना। उन्हें कोई भी आकर्षण अपनी ओर आकर्षित कर नहीं सकती। वह कभी नहीं कह सकते कि क्या करें, चाहते नहीं थे लेकिन हो गया…कई बच्चे जीते जी मरकर फिर जिंदा हो जाते हैं। रावण का एक सिर खत्म करते तो दूसरा आ जाता, लेकिन फाउन्डेशन को ही खत्म कर दो तो रूप बदल करके माया वार नहीं करेगी।
स्लोगन:- सबसे लकी वो हैं जो याद और सेवा में सदा बिजी रहते हैं।

[wp_ad_camp_3]

 

To Read Murli 4 August 2017 :- Click Here

 

Font Resize