5 november ki murli

TODAY MURLI 5 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 5 November 2020

05/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to give you children your inheritance of peace and happiness. Your original religion is peace. Therefore, you no longer wander around searching for peace.
Question: How do you children become worthy of being weighed against unlimited treasures for 21 births?
Answer: When the Father comes to make the world new, you children become His helpers. You use everything you have in a worthwhile way for His task. Therefore, in return, the Father weighs you against unlimited treasures for 21 births so that your wealth never diminishes; you never experience sorrow or untimely death.
Song: The heart gives thanks to the One who has given me support.

Om shanti. The meaning of “Om” has been explained to you sweetest, spiritual children. Some people simply say “Om”, but “Om shanti” should be said. The meaning of “Om” by itself is “God”. The meaning of “Om shanti” is “I, a soul, am an embodiment of peace. I am a soul and this is my body.” The soul is first and then the body. Souls are embodiments of peace and their residence is the land of peace. It isn’t that you receive true peace by going into the forests. Only when you go home do you receive true peace. Secondly, people want peace when there is peacelessness. When this peaceless land of sorrow is destroyed, there will then be peace. You children will then receive your inheritance of peace. There, there is no peacelessness in either your home or outside in the kingdom. That is called the kingdom of peace. Here, it is the kingdom of peacelessness because it is the kingdom of Ravan. That is the kingdom established by God. Then, after the copper age begins, it becomes the Devil’s kingdom. Devils never have peace! At home, at work etc., everywhere, there is nothing but peacelessness. Ravan’s five vices spread peacelessness. None of the scholars or pundits know what Ravan is. They don’t understand why they kill Ravan every year. Ravan doesn’t exist in the golden or silver age. That is the deity kingdom. God, Baba, establishes the deity kingdom through you. He doesn’t do this by Himself. You sweetest children are God’s helpers. Previously, you were Ravan’s helpers. God has now come and is granting salvation to everyone. He is establishing the kingdom of purity, peace and happiness. Each of you children has now received a third eye of knowledge. There is no question of sorrow in the golden and silver ages. No one insults anyone there; no one eats anything dirty there. Just look how dirty the food is that people eat here! Krishna has been portrayed having a lot of love for cows. It isn’t that Krishna was a cowherd who had to herd cows; no. There is a lot of difference between the cows there and the cows here. The cows there were very beautiful and satopradhan. Just as the deities were beautiful so, too, the cows were beautiful. You felt happy just looking at them. That is heaven and this is hell. Everyone remembers heaven. There is the difference of day and night between heaven and hell. During the night, there is darkness and during the day, there is light. When it is the day of Brahma it is also the day of the clan of Brahma. Previously, you too were in the dark night. At this time, there is so much force of devotion. People continue to weigh great souls against gold because they are great scholars of the scriptures. Why do they make such an impact? Baba has also explained this. When new leaves emerge on a tree they are satopradhan. Similarly, when new souls come from up above they definitely make an impact for a temporary period. People weigh them against gold or diamonds. However, all of that is going to be destroyed. Human beings have buildings worth hundreds of thousands. They believe themselves to be very wealthy. You children understand that that wealth will only last for a short time. All of it is to be turned to dust. Some people’s wealth will be buried… The Father is establishing heaven, and those who use their wealth for this will receive palaces studded with gold and diamonds for 21 births. Here, you only receive for one birth. There, it will continue for 21 births. Whatever you can see with your eyes, including your bodies, will be burnt. You children have visions through divine insight. There will be destruction and then there will be the kingdom of Lakshmi and Narayan. You know that you are once again establishing your fortune of the kingdom. You ruled for 21 generations and then there was the kingdom of Ravan. The Father has now come again. Everyone on the path of devotion remembers the Father. It is remembered that everyone remembers God at a time of sorrow. The Father gives you your inheritance of happiness and then there is no need to remember Him. “You are the Mother and the Father”. That mother and father have their own children. Here, it is a question of the Mother and Father from beyond this world. You are now studying to become Lakshmi and Narayan. When students in a school pass very well, their teacher is given a prize. What prize would you give that One? You are making Him your Child with magic. It is said that Krishna’s mother saw a ball of butter in Krishna’s mouth. Krishna took birth in the golden age; he would not eat butter etc. He is the master of the world. So, what time does that refer to? It refers to now, the confluence age. You know that you will shed your bodies and become babies. You will become the masters of the world. The two Christian nations fight one another and you children take the butter; you receive the kingdom. Those people made the people of Bharat fight among themselves and they took the butter. (Divide and rule). The British Government extended over three-quarters of the world. Then, their influence gradually decreased. No one, apart from you, can rule the whole world. You are now the children of God. You are now becoming the masters of Brahmand and the masters of the world. Brahmand is not included in the world. There is no kingdom in the subtle region. The cycle of the golden, silver, copper and iron ages exists here in the corporeal world. Souls don’t go anywhere when they go into trance. If that soul were to leave his body, that body would die. All of those things are visions. Some people can even receive a vision through occult power in such a way that, while they are sitting there, they are able to see a Parliament abroad. Baba holds the key to divine vision in His hand. While sitting here you can see London. You don’t need to buy any instruments etc. Visions are received at the right time according to the time they are fixed in the drama. God has been portrayed granting a vision to Arjuna. According to the drama, he had to have a vision. This too is fixed. It isn’t anyone’s greatness. All of this happens according to the drama. Krishna becomes the prince of the world, that is, he receives the butter. No one even knows what the world is and what Brahmand is. You souls reside in Brahmand. It is at this time that the coming and going from the subtle region and having visions etc. take place. The subtle region will not then be mentioned for another 5000 years. They say: Salutations to the Deity Brahma. Then they say: Salutations to the Supreme Soul, Shiva. Therefore, He is the highest. He is called God. Those deities are also human beings but they have divine virtues. There cannot be any human beings with four to eight arms. There, too, human beings only have two arms, but they are completely pure; there is no mention of impurity. There is never untimely death there. Therefore you children should have a lot of happiness. I, a soul, am seeing Baba through this body. You can only see the body; you can neither see the Supreme Soul nor a soul. It is a matter of understanding souls and the Supreme Soul. You receive divine insight to see them. Everything that you see in a divine vision would be seen to be large. The kingdom will also be large. A soul is just a point. You would not understand anything by seeing a point. Souls are very subtle. Many doctors have tried to catch hold of a soul, but no one is able to know anything. Those people are weighed against gold and diamonds. You are becoming multimillionaires for birth after birth. You don’t have any external show. He sits in this chariot and teaches us in an ordinary way. Its name is The Lucky Chariot (Bhagirath). The Father enters this impure old chariot and does the highest-on-high service. The Father says: I don’t have a body of My own. How can I, the Ocean of Knowledge, the Ocean of Love, give you your inheritance? I cannot give it from up there. Would I teach through inspiration? I definitely have to come here. On the path of devotion you worship Me and you all love Me. People love the pictures of Gandhi and Nehru etc. They remember their bodies. Souls are imperishable and so they have taken another birth, but people continue to remember the perishable images. That is the worship of matter! They create a shrine and offer flowers etc. That is a memorial. There are so many temples to Shiva. The biggest memorial is to Shiva. There is the praise of the Somnath Temple. Mahmud Gaznavi came and looted it. You had so much wealth! Baba weighs you children against jewels. I don’t have Myself weighed. I don’t become so wealthy! I make you that. Those people might weigh someone and, tomorrow, he might die. That wealth would be of no use. The Father weighs you against limitless treasures in such a way that they remains with you for 21 births. However, that is only if you follow shrimat. There is no mention of sorrow there; there is never untimely death there. There will be no fear of death. People here are so afraid of death that they cry. There is so much happiness there that you will go and become princes. Shiva, the Supreme Soul, is called the Magician, the Businessman, and the Jewel Merchant. He also grants you visions of becoming a prince like that. Baba has now closed the part of visions. A lot of harm was caused through those. The Father is now granting us salvation through knowledge. First, you will go to the land of happiness. It is now the land of sorrow. You know that it is souls that imbibe knowledge. This is why the Father says: Consider yourselves to be souls. Good and bad sanskars are in the souls. If your sanskars were in your body, they would then be burnt with your body. You say: Shiv Baba, we souls are studying through these bodies. This is a new thing. Shiv Baba is teaching us souls. Remember this very firmly. He is the Father and also the Teacher of all of us souls. The Father Himself says: I don’t have a body of My own. I too am a soul, but I am called the Supreme Soul. It is souls that do everything. The names of the bodies continue to change. A soul is a soul. I, the Supreme Soul, don’t take rebirth like you do. My part is such in the drama that I enter this one and speak knowledge to you. That is why this one is called The Lucky Chariot. He is also called an old shoe. Shiv Baba wears an old long boot. The Father says: I enter this one at the end of the last of his many births. This one becomes this first of all and the same applies to you! Baba says: You are very young. You have to study more than I do and claim a high status. However, I have Baba with me and so I remember Him again and again. Baba also sleeps with me. However, Baba cannot hug me. He can hug you. You are very lucky. You can hug the body that Shiv Baba has taken on loan. How can I hug Him? I don’t have that fortune! This is why you are remembered as the lucky stars. Children are always lucky. A father gives his children wealth. Therefore, you are lucky stars. Shiv Baba says: You are luckier than I am. I teach you and make you into the masters of the world. I don’t become that. You also become the masters of Brahmand. I only have the key to divine vision. I am the Ocean of Knowledge. I also make you into master oceans of knowledge. You know the whole cycle and will become rulers of the globe, emperors and empresses. I don’t become that. When people grow old, they will everything to their children and go into retirement. It used to be like that in earlier days. Nowadays, they have attachment to their children. The Father from beyond says: I enter this one and change you children into flowers from thorns and make you into the masters of the world. I make you ever happy for half the cycle and then go and sit in the stage of retirement. These things are not mentioned in the scriptures. Sannyasis relate things of the scriptures. The Father is the Ocean of Knowledge. He Himself says: The Vedas and scriptures are the paraphernalia of the path of devotion. Only I am the Ocean of Knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Whatever you see with your eyes, including your body, is all to be burnt. Therefore, use everything you have in a worthwhile way.
  2. Study in order to claim your full inheritance from the Father. Constantly keep your luck in your awareness and become a master of Brahmand and a master of the world.
Blessing: May you be a conqueror of the world by becoming free from any bondage of a royal form of Maya.
My effort, my invention, my service, my touching, my virtues are good; my decision making power is very good. This consciousness of “mine” is a royal form of Maya. Maya performs such magic that she even makes “Yours” into “mine” and so, now, become free from any such bondage and form a relationship with the one Father and you will become a conqueror of Maya. Only those who are conquerors of Maya become conquerors of the world. They can easily and automatically use the direction of one second to become bodiless.
Slogan: A world transformer is one who transforms anyone’s negative into positive.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

05-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप आये हैं तुम बच्चों को शान्ति और सुख का वर्सा देने, तुम्हारा स्वधर्म ही शान्त है, इसलिए तुम शान्ति के लिए भटकते नहीं हो।”
प्रश्नः- अभी तुम बच्चे 21 जन्मों के लिए अखुट खजानों में वज़न करने योग्य बनते हो – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि बाप जब नई सृष्टि रचते हैं, तब तुम बच्चे उनके मददगार बनते हो। अपना सब कुछ उनके कार्य में सफल करते हो इसलिए बाप उसके रिटर्न में 21 जन्मों के लिए तुम्हें अखुट खजानों में ऐसा वज़न करते हैं जो कभी धन भी नहीं खुटता, दु:ख भी नहीं आता, अकाले मृत्यु भी नहीं होती।
गीत:- मुझको सहारा देने वाले……..

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को ओम् का अर्थ तो सुनाया है। कोई-कोई सिर्फ ओम् कहते हैं, परन्तु कहना चाहिए ओम् शान्ति। सिर्फ ओम् का अर्थ निकलता है ओम् भगवान। ओम् शान्ति का अर्थ है मैं आत्मा शान्त स्वरूप हूँ। हम आत्मा हैं, यह हमारा शरीर है। पहले है आत्मा, पीछे है शरीर। आत्मा शान्त स्वरूप है, उनका निवास स्थान है शान्तिधाम। बाकी कोई जंगल में जाने से सच्ची शान्ति नहीं मिलती है। सच्ची शान्ति मिलनी ही तब है जब घर जाते हैं। दूसरा शान्ति चाहते हैं जहाँ अशान्ति है। यह अशान्ति का दु:खधाम विनाश हो जायेगा फिर शान्ति हो जायेगी। तुम बच्चों को शान्ति का वर्सा मिल जायेगा। वहाँ न घर में, न बाहर राजधानी में अशान्ति होती। उसको कहा जाता है शान्ति का राज्य, यहाँ है अशान्ति का राज्य क्योंकि रावण राज्य है। वह है ईश्वर का स्थापन किया हुआ राज्य। फिर द्वापर के बाद आसुरी राज्य होता है, असुरों को कभी शान्ति होती नहीं। घर में, दुकान में जहाँ तहाँ अशान्ति ही अशान्ति होगी। 5 विकार रूपी रावण अशान्ति फैलाते हैं। रावण क्या चीज़ है, यह कोई भी विद्वान पण्डित आदि नहीं जानते। समझते नहीं हैं हम वर्ष-वर्ष रावण को क्यों मारते हैं। सतयुग-त्रेता में यह रावण होता ही नहीं। वह है ही दैवी राज्य। ईश्वर बाबा दैवी राज्य की स्थापना करते हैं तुम्हारे द्वारा। अकेले तो नहीं करते हैं। तुम मीठे-मीठे बच्चे ईश्वर के मददगार हो। आगे थे रावण के मददगार। अब ईश्वर आकर सर्व की सद्गति कर रहे हैं। पवित्रता, सुख, शान्ति की स्थापना करते हैं। तुम बच्चों को ज्ञान का अब तीसरा नेत्र मिला है। सतयुग-त्रेता में दु:ख की बात नहीं। कोई गाली आदि नहीं देते, गंद नहीं खाते। यहाँ तो देखो गंद कितना खाते हैं। दिखाते हैं कृष्ण को गऊयें बहुत प्यारी लगती थी। ऐसे नहीं कि कृष्ण कोई ग्वाला था, गऊ की पालना करते थे। नहीं, वहाँ की गऊ और यहाँ की गऊ में बहुत-बहुत फ़र्क है। वहाँ की गायें सतोप्रधान बहुत सुन्दर होती हैं। जैसे सुन्दर देवतायें, वैसे गायें। देखने से ही दिल खुश हो जाए। वह है ही स्वर्ग। यह है नर्क। सभी स्वर्ग को याद करते हैं। स्वर्ग और नर्क में रात-दिन का फ़र्क है। रात होती है अन्धियारी, दिन में है सोझरा। ब्रह्मा का दिन गोया ब्रह्मावंशियों का भी दिन हो जाता। पहले तुम भी घोर अन्धियारी रात में थे। इस समय भक्ति का कितना ज़ोर है, महात्मा आदि को सोने में वज़न करते रहते क्योंकि शास्त्रों के बहुत विद्वान हैं। उन्हों का प्रभाव इतना क्यों है? यह भी बाबा ने समझाया है। झाड़ में नये-नये पत्ते निकलते हैं तो सतोप्रधान हैं। ऊपर से नई सोल आयेगी तो जरूर उनका प्रभाव होगा ना अल्पकाल के लिए। सोने अथवा हीरों में वज़न करते हैं, परन्तु यह तो सब खलास हो जाने हैं। मनुष्यों के पास कितने लाखों के मकान हैं। समझते हैं हम तो बहुत साहूकार हैं। तुम बच्चे जानते हो यह साहूकारी बाकी थोड़े समय के लिए है। यह सब मिट्टी में मिल जायेंगे। किनकी दबी रही धूल में…….. बाप स्वर्ग की स्थापना करते हैं, उसमें जो लगाते हैं उन्हों को 21 जन्मों के लिए हीरों-जवाहरों के महल मिलेंगे। यहाँ तो एक जन्म के लिए मिलता है। वहाँ तुम्हारा 21 जन्म चलेगा। इन आंखों से जो कुछ देखते हो शरीर सहित सब भस्म हो जाना है। तुम बच्चों को दिव्य दृष्टि द्वारा साक्षात्कार भी होता है। विनाश होगा फिर इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य होगा। तुम जानते हो हम अपना राज्य-भाग्य फिर से स्थापन कर रहे हैं। 21 पीढ़ी राज्य किया फिर रावण का राज्य चला। अब फिर बाप आया है। भक्ति मार्ग में सब बाप को ही याद करते हैं। गायन भी है दु:ख में सिमरण सब करें……..। बाप सुख का वर्सा देते हैं, फिर याद करने की दरकार नहीं रहती। तुम मात-पिता…….. अब यह तो माँ-बाप होंगे अपने बच्चों के। यह है पारलौकिक मात-पिता की बात। अभी तुम यह लक्ष्मी-नारायण बनने के लिए पढ़ते हो। स्कूल में बच्चे अच्छा पास होते हैं तो फिर टीचर को इनाम देते हैं। अब तुम उनको क्या इनाम देंगे! तुम तो उनको अपना बच्चा बना लेते हो, जादूगरी से। दिखलाते हैं – कृष्ण के मुख में माँ ने देखा माखन का गोला। अब कृष्ण ने तो जन्म लिया सतयुग में। वह तो माखन आदि नहीं खायेंगे। वह तो है विश्व का मालिक। तो यह किस समय की बात है? यह है अभी संगम की बात। तुम जानते हो हम यह शरीर छोड़ बच्चा जाए बनेंगे। विश्व का मालिक बनेंगे। दोनों क्रिश्चियन आपस में लड़ते हैं और माखन मिलता है तुम बच्चों को। राजाई मिलती है ना। जैसे वो लोग भारत को लड़ाकर मक्खन खुद खा गये। क्रिश्चियन की राजधानी पौन हिस्से में थी। पीछे आहिस्ते-आहिस्ते छूटती गई है। सारे विश्व पर सिवाए तुम्हारे कोई राज्य कर न सके। तुम अभी ईश्वरीय सन्तान बने हो। अभी तुम ब्रह्माण्ड के मालिक और विश्व के मालिक बनते हो। विश्व में ब्रह्माण्ड नहीं आया। सूक्ष्मवतन में भी राजाई नहीं है। सतयुग-त्रेता…… यह चक्र यहाँ स्थूल वतन में होता है। ध्यान में आत्मा कहाँ जाती नहीं। आत्मा निकल जाए तो शरीर खत्म हो जाए। यह सब हैं साक्षात्कार, रिद्धि-सिद्धि द्वारा ऐसे भी साक्षात्कार होते हैं, जो यहाँ बैठे विलायत की पार्लियामेन्ट आदि देख सकते हैं। बाबा के हाथ में फिर है दिव्य दृष्टि की चाबी। तुम यहाँ बैठे लण्डन देख सकते हो। औजार आदि कुछ नहीं जो खरीद करना पड़े। ड्रामा अनुसार उस समय पर वह साक्षात्कार होता है, जो ड्रामा में पहले से ही नूँध है। जैसे दिखाते हैं भगवान् ने अर्जुन को साक्षात्कार कराया। ड्रामा अनुसार उनको साक्षात्कार होना था। यह भी नूँध है। कोई की बड़ाई नहीं है। यह सब ड्रामा अनुसार होता है। कृष्ण विश्व का प्रिन्स बनता है, गोया मक्खन मिलता है। यह भी कोई जानते नहीं कि विश्व किसको, ब्रह्माण्ड किसको कहा जाता है। ब्रह्माण्ड में तुम आत्मायें निवास करती हो। सूक्ष्मवतन में आना-जाना साक्षात्कार आदि इस समय होता है फिर 5 हज़ार वर्ष सूक्ष्मवतन का नाम नहीं होता। कहा जाता है ब्रह्मा देवता नम: फिर कहते हैं शिव परमात्माए नम: तो सबसे ऊंच हो गया ना। उनको कहा जाता है भगवान। वह देवतायें हैं मनुष्य, परन्तु दैवी-गुण वाले हैं। बाकी 4-8 भुजा वाले मनुष्य होते नहीं। वहाँ भी 2 भुजा वाले ही मनुष्य होते हैं, परन्तु सम्पूर्ण पवित्र, अपवित्रता की बात नहीं। अकाले मृत्यु कभी होती नहीं। तो तुम बच्चों को बहुत खुशी रहनी चाहिए। हम आत्मा इस शरीर द्वारा बाबा को तो देखें। देखने में तो शरीर आता है, परमात्मा अथवा आत्मा को तो देख नहीं सकते। आत्मा और परमात्मा को जानना होता है। देखने लिए फिर दिव्य दृष्टि मिलती है। और सब चीज़ें दिव्य दृष्टि से बड़ी देखने में आयेगी। राजधानी बड़ी देखने में आयेगी। आत्मा तो है ही बिन्दी। बिन्दी को देखने से तुम कुछ भी नहीं समझेंगे। आत्मा तो बहुत महीन है। बहुत डॉक्टर्स आदि ने कोशिश की है आत्मा को पकड़ने की, परन्तु किसको पता नहीं पड़ता। वो लोग तो सोने-हीरों में वज़न करते हैं। तुम जन्म-जन्मान्तर पद्मपति बनते हो। तुम्हारा बाहर का शो ज़रा भी नहीं। साधारण रीति इस रथ में बैठ पढ़ाते हैं। उनका नाम है भागीरथ। यह है पतित पुराना रथ, जिसमें बाप आकर ऊंच ते ऊंच सर्विस करते हैं। बाप कहते हैं मुझे तो अपना शरीर है नहीं। मैं जो ज्ञान का सागर, प्रेम का सागर…. हूँ, तो तुमको वर्सा कैसे दूँ! ऊपर से तो नहीं दूँगा। क्या प्रेरणा से पढ़ाऊंगा? जरूर आना पड़ेगा ना। भक्ति मार्ग में मुझे पूजते हैं, सबको प्यारा लगता हूँ। गांधी, नेहरू का चित्र प्यारा लगता है, उनके शरीर को याद करते हैं। आत्मा जो अविनाशी है उसने तो जाकर दूसरा जन्म लिया। बाकी विनाशी चित्र को याद करते हैं। वह भूत पूजा हुई ना। समाधि बनाकर उन पर फूल आदि बैठ चढ़ाते हैं। यह है यादगार। शिव के कितने मन्दिर हैं, सबसे बड़ा यादगार शिव का है ना। सोमनाथ मन्दिर का गायन है। मुहम्मद गजनवी ने आकर लूटा था। तुम्हारे पास इतना धन रहता था। बाबा तुम बच्चों को रत्नों में वज़न करते हैं। खुद को वज़न नहीं कराता हूँ। मैं इतना धनवान बनता नहीं हूँ, तुमको बनाता हूँ। उनको तो आज वजन किया, कल मर जायेंगे। धन कोई काम नहीं आयेगा। तुमको तो बाप अखुट खजाने में ऐसा वजन करते हैं जो 21 जन्म साथ रहेगा। अगर श्रीमत पर चलेंगे तो वहाँ दु:ख का नाम नहीं, कभी अकाले मृत्यु नहीं होती। मौत से डरेंगे नहीं। यहाँ कितना डरते हैं, रोते हैं। वहाँ कितनी खुशी होती है – जाकर प्रिंस बनेंगे। जादूगर, सौदागर, रत्नागर, यह शिव परमात्मा को कहा जाता है। तुमको भी साक्षात्कार कराते हैं। ऐसे प्रिन्स बनेंगे। आजकल बाबा ने साक्षात्कार का पार्ट बन्द कर दिया है। नुकसान हो जाता है। अभी बाप ज्ञान से तुम्हारी सद्गति करते हैं। तुम पहले जायेंगे सुखधाम। अभी तो है दु:खधाम। तुम जानते हो आत्मा ही ज्ञान धारण करती है, इसलिए बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो। आत्मा में ही अच्छे वा बुरे संस्कार होते हैं। शरीर में हों तो शरीर के साथ संस्कार भस्म हो जाएं। तुम कहते हो शिवबाबा, हम आत्मायें पढ़ती हैं इस शरीर द्वारा। नई बात है ना। हम आत्माओं को शिवबाबा पढ़ाते हैं। यह तो पक्का-पक्का याद करो। हम सब आत्माओं का वह बाप भी है, टीचर भी है। बाप खुद कहते हैं मुझे अपना शरीर नहीं है। मैं भी हूँ आत्मा, परन्तु मुझे परमात्मा कहा जाता है। आत्मा ही सब कुछ करती है। बाकी शरीर के नाम बदलते हैं। आत्मा तो आत्मा ही है। मैं परम आत्मा तुम्हारे मुआफिक पुनर्जन्म नहीं लेता हूँ। मेरा ड्रामा में पार्ट ही ऐसा है, जो मैं इनमें प्रवेश कर तुमको सुना रहा हूँ इसलिए इनको भाग्यशाली रथ कहा जाता है। इनको पुरानी जुत्ती भी कहते हैं। शिवबाबा ने भी पुराना लांग बूट पहना है। बाप कहते हैं मैंने इसमें बहुत जन्मों के अन्त में प्रवेश किया है। पहले-पहले यह बनते हैं तत् त्वम। बाबा कहते हैं तुम तो जवान हो। मेरे से जास्ती पढ़कर ऊंच पद पाना चाहिए, परन्तु मेरे साथ बाबा है तो मुझे घड़ी-घड़ी उनकी याद आती है। बाबा मेरे साथ सोता भी है, परन्तु बाबा मुझे भाकी नहीं पहन सकते। तुमको भाकी पहनते हैं। तुम भाग्यशाली हो ना। शिवबाबा ने जो शरीर लोन लिया है तुम उनको भाकी पहन सकते हो। मैं कैसे पहनूँ! मुझे तो यह भी नसीब नहीं है इसलिए तुम लक्की सितारे गाये हुए हो। बच्चे हमेशा लक्की होते हैं। बाप पैसे बच्चों को दे देते हैं, तो तुम लक्की सितारे ठहरे ना। शिवबाबा भी कहते हैं तुम मेरे से लक्की हो, तुमको पढ़ाकर विश्व का मालिक बनाता हूँ, मैं थोड़ेही बनता हूँ। तुम ब्रह्माण्ड के भी मालिक बनते हो। बाकी मेरे पास जास्ती दिव्य दृष्टि की चाबी है। मैं ज्ञान का सागर हूँ। तुमको भी मास्टर ज्ञान सागर बनाता हूँ। तुम इस सारे चक्र को जान चक्रवर्ती महाराजा-महारानी बनते हो। मैं थोड़ेही बनता हूँ। बूढ़े होते हैं तो फिर बच्चों को विल कर खुद वानप्रस्थ में चले जाते हैं। आगे ऐसा होता था। आजकल तो बच्चों में मोह जाकर पड़ता है। पारलौकिक बाप कहते हैं मैं इनमें प्रवेश कर तुम बच्चों को कांटों से फूल विश्व का मालिक बनाए, आधा-कल्प के लिए सदा सुखी बनाए मैं वानप्रस्थ में बैठ जाता हूँ। यह सब बातें शास्त्रों में थोड़ेही हैं। संन्यासी, उदासी शास्त्रों की बातें सुनाते हैं। बाप तो ज्ञान का सागर है। खुद कहते हैं यह वेद-शास्त्र आदि सब भक्ति मार्ग की सामग्री हैं। ज्ञान सागर तो मैं ही हूँ। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इन आंखों से शरीर सहित जो दिखाई देता है, यह सब भस्म हो जाना है इसलिए अपना सब कुछ सफल करना है।

2) बाप से पूरा वर्सा लेने के लिए पढ़ाई पढ़नी है। सदा अपने लक को स्मृति में रख ब्रह्माण्ड वा विश्व का मालिक बनना है।

वरदान:- माया के रॉयल रूप के बन्धनों से मुक्त, विश्व जीत, जगतजीत भव
मेरा पुरूषार्थ, मेरी इन्वेन्शन, मेरी सर्विस, मेरी टचिंग, मेरे गुण अच्छे हैं, मेरी निर्णय शक्ति बहुत अच्छी है, यह मेरा पन ही रॉयल माया का रूप है। माया ऐसा जादू मंत्र कर देती है जो तेरे को भी मेरा बना देती है इसलिए अब ऐसे अनेक बन्धनों से मुक्त बन एक बाप के सम्बन्ध में आ जाओ तो मायाजीत बन जायेंगे। माया जीत ही प्रकृति जीत, विश्व जीत व जगतजीत बनते हैं। वही एक सेकण्ड के अशरीरी भव के डायरेक्शन को सहज और स्वत: कार्य में लगा सकते हैं।
स्लोगन:- विश्व परिवर्तक वही है जो किसी के निगेटिव को पॉजिटिव में बदल दे।

TODAY MURLI 5 NOVEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 5 November 2019

05/11/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, see but do not see the things that you see with your physical eyes. Remove your attachment from them, because everything is about to catch fire.
Question: What incognito task of God’s Government does no one in the world know about?
Answer: God’s Government purifies souls and makes them into deities. This is a very incognito task which human beings cannot understand. Only when human beings become deities do they change from residents of hell into residents of heaven. The vices have completely ruined the character of humans. You are now doing the service of making everyone’s character elevated. This is your main task.

Om shanti. You understand that by saying “Om shanti” you remember your original religion of the self and your home, but you don’t need to sit in that home now. Since you have become children of the Father, you will also definitely remember the inheritance of heaven. When you say “Om shanti” all of this knowledge enters your intellects. I, the soul, am an embodiment of peace. I am a child of the Father who is the Ocean of Peace. The Father who establishes heaven is the Father who makes us pure and into embodiments of peace. Purity is the main aspect. There is the pure world and the impure world. There isn’t a single vice in the pure world. There are five vices in this impure world. This world is therefore called the vicious world. That is the viceless world. Whilst continuing to come down the ladder from the viceless world, you descended into the vicious world. That is the pure world; this is the impure world. There is the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan. At times, they are referred to as day and night. There is the day of Brahma and the night of Brahma; there is happiness during the day and sorrow during the night. The night is for wandering around. It is not that you wander around at night, but it is devotion that is called wandering. You children have come here to receive salvation. You souls have been filled with the sins of five vices. Out of those, the main sin is the vice of lust. It is because of this vice that human beings become sinful souls. All of you know that you are impure; that you were born through corruption. Due to the vice of lust, all of your qualifications have been spoilt. This is why the Father says: Conquer this vice of lust and you will conquer the world and become the masters of the new world. You should have a lot of happiness inside you. When human beings become impure, they don’t understand anything. There are so many upheavals due to lust. There is such a lot of peacelessness and cries of sorrow. Why are there cries of sorrow in the world at the present time? Because all are sinful souls. They are called devils because of the vices. You have now been made to understand by the Father that you were completely like shells and worth not a penny. Things that are not useful are burnt in a fire. You children now understand that there is nothing useful in this world. All human beings will catch fire. Whatever you can see with your physical eyes, it is to catch fire. Souls cannot catch fire; it is as though souls are insured. Can souls ever be insured? It is the body that is insured. You children have been told that this is a play. Souls reside up above, far beyond the five elements. All the paraphernalia of this world is created from the five elements. Souls are not created, they always exist, but they do become charitable souls and sinful souls. How dirty souls become through the five vices! The Father has now come to free you from committing sin. Your whole character has been ruined by the vices. No one even knows what is meant by character. The kingdom of the Pandavas and the kingdom of the Kauravas have been remembered. No one even knows who the Pandavas were. You understand that you now belong to God’s Government. The Father has come to establish the kingdom of Rama. What is God’s Government doing at the present time? It is purifying souls and making them into deities. Otherwise, where would the deities have come from? No one knows this; therefore, this is called an incognito Government. They too were humans, so how did they become deities? Who made them into deities? Deities exist in heaven. Who made them into residents of heaven? From residents of heaven, they become residents of hell, and then, from residents of hell, they again become residents of heaven. You did not know any of this, so how could anyone else know? The golden age is called heaven and the iron age is called hell. You too now understand that this drama is predestined. This study is to become pure from impure. It is souls that become impure. The Father has taught you the business of changing from impure to pure. If you become pure, you will go to the pure world. Only when souls become pure are they worthy of going to heaven. It is only at the confluence age that you receive this knowledge. You receive the weapons to become pure. Only one Baba is called the Purifier. It is to Him that they say: Purify us! Lakshmi and Narayan were the masters of heaven. Then, whilst taking 84 births, they became impure. This one (Krishna) is given the title of “Ugly and Beautiful” (Shyam Sundar), but people do not understand the meaning of that. You also receive a clear explanation about Krishna. They have made the one world into two worlds. In fact, there is only this one world which becomes new and old. Children are at first young and then they grow up and become old. The world is also new at first and then becomes old. You have to beat your head so much to explain! You are establishing your kingdom. This one also understood this, did he not? It was by understanding everything that he became so sweet. Who explained to him? God. It was not a question of a war etc. God makes you so knowledge-full and sensible! People go to a Shiva temple and bow their heads, but none of them knows what He is or who He is. They just say: Shiva from Kashi, the One who is the Master of the World who brought the Ganges, but they don’t understand the meaning of that at all. When you try to explain to them, they say: What would you explain to us? We have studied the Vedas and scriptures, etc. You children imbibe this, numberwise. Those who have completely stone intellects forget these things. Those with divine intellects now have the task of making the intellects of others divine. The activities of those with stone intellects are like that! There are swans and storks. A swan would never make anyone unhappy. Storks cause sorrow. Such ones are also called devils; they have no recognition. Many vicious ones come to the centres. They tell stories that they remain pure, but those are lies. It is also said that the world is false…. It is now the confluence age. There is so much difference! Those who lie, those who behave wrongly, are the ones who come in the third grade. There are the firstsecond and third grades. The Father can tell you which ones are in the third grade. The Father explains that you have to give complete proof of your purity. Many say: It is impossible for the two of you to live together and remain pure. Because of not having any power of yoga, some children cannot fully explain such an easy aspect. No one can explain to them that it is God who teaches us. He says that by becoming pure you become the masters of heaven for 21 births. You win a huge lottery. There is even more happiness. Many children do have a pure marriage and remain pure. The deities are pure. Only the one Father can make you pure from impure. Knowledge, devotion and disinterest have also been explained to you. Knowledge and devotion are half-and-half and disinterest comes after devotion. You are now no longer to stay in this impure world. You have to remove your clothes (body) and return home. Now that our cycle of 84 births is complete we are to go back to our land of peace. You should not forget the first aspect, Alpha. You children also understand that this old world is definitely to be destroyed. The Father is establishing the new world. He has come many times to establish the new world and destruction of hell then takes place. Hell is so huge whereas heaven is so tiny. There is one religion in the new world. There are now so many religions here. It has been written: Destruction through Shankar. There is to be the destruction of all those many religions and establishment of one religion through Brahma. Who established this religion? It was not Brahma. Brahma becomes pure from impure. It isn’t said of Me (Shiva) that I change from impure to pure. When these ones are pure, they are called Lakshmi and Narayan. When he is impure, his name is Brahma. There is the day of Brahma and the night of Brahma. He (Shiv Baba) is called the eternal Creator. Souls exist anyway, so He cannot be called the Creator of souls. They are therefore called eternal. The Father is eternal and souls are also eternal. This play is also eternal. This is an eternally predestined drama. You souls have received the knowledge of the beginning, middle and end of the duration of the world cycle. Who gave you this? The Father. You belong to the Lord and Master for 21 births and you then become orphans in the kingdom of Ravan and ruin your character with those vices. Human beings believe that hell and heaven exist together at the same time. Everything has now very clearly been explained to you children. You are now incognito. All sorts of things have been written in the scriptures. The thread is totally tangled. They call out to the Father: We are of no use. Come and purify us and reform our character. Your character is being reformed a great deal. Instead of reforming their character, some spoil it even more. You can tell this from their behaviour. Today, they are swans and tomorrow, they become storks; it takes them no time. Maya is also very incognito. Nothing is visible here, but as soon as they go out, everything is visible. They become amazed, they listen and then they run away! They fall with such great force that their bones are crushed. This refers to the Court of Indra, Indraprasth. You do know which ones should not be brought into the gathering. Having heard a little knowledge, they will go to heaven; knowledge cannot be destroyed. The Father says: Now make effort and claim a high status. If you indulge in vice, your status is destroyed. You now understand how this cycle turns. The intellects of you children have now changed so much! Nevertheless, Maya still deceives you. You should have total ignorance of desire. If you keep one desire or another, you lose everything and become worth not a penny. Maya deceives some very good maharathis in one way or another and they cannot then climb into (Baba’s) heart. Some children do not even hesitate to kill their father. They would also destroy their family. They are greatly sinful souls. Ravan makes them do all sorts of things. There is a lot of dislike for them. It is such a dirty world! You should never let your heart be attracted to it. A lot of courage is needed to become pure. In order to win the prize of the world, purity is the main thing. There are so many upheavals due to purity. Gandhi too used to say: O Purifier, come! The Father says: The history and geography of the world are now repeating once again. Everyone definitely has to come down, for only then can they all return home together. The Father has come to take you all home. No one can return before the Father comes. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to be saved from being deceived by Maya, do not have any kind of desire. Be totally ignorant of desire.
  2. In order for you to win the prize of the sovereignty of the world, purity is the main thing. Therefore, you need to have the courage to remain pure. You have to reform your character.
Blessing: May you become totally free from attachment and serve with the feeling of mercy and the consciousness of being an instrument.
At present, when all souls are tired and disheartened and are asking for mercy, you children of the Bestower have to be merciful towards your brothers and sisters. No matter how bad someone may be, be merciful to that one too and you will not have feelings of dislike, jealousy or anger. When the feeling of mercy emerges you easily have the consciousness of being an instrument. Do not have mercy out of attachment, for true mercy makes you free from attachment because there is no body consciousness in that.
Slogan: To give co-operation to others is to accumulate in your own account.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 NOVEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 November 2019

05-11-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – इन आंखों से जो कुछ दिखाई देता है, इसे देखते हुए भी नहीं देखो, इनसे ममत्व निकाल दो क्योंकि इसे आग लगनी है”
प्रश्नः- ईश्वरीय गवर्मेन्ट का गुप्त कर्तव्य कौन-सा है, जिसे दुनिया नहीं जानती?
उत्तर:- ईश्वरीय गवर्मेन्ट आत्माओं को पावन बनाकर देवता बनाती है-यह है बहुत गुप्त कर्तव्य, जिसे मनुष्य नहीं समझ सकते। जब मनुष्य देवता बनें तब तो नर्कवासी से स्वर्गवासी बन सकें। मनुष्य का सारा कैरेक्टर विकारों ने बिगाड़ा है। अभी तुम सबको श्रेष्ठ कैरेक्टर वाला बनाने की सेवा करते हो, यही तुम्हारा मुख्य कर्तव्य है।

ओम् शान्ति। जब ओम् शान्ति कहा जाता है, तो अपना स्वधर्म और अपना घर याद पड़ता है फिर घर में बैठ तो नहीं जाना है। बाप के बच्चे बने हैं तो जरूर स्वर्ग का वर्सा भी याद पड़ेगा। ओम् शान्ति कहने से भी सारा ज्ञान बुद्धि में आ जाता है। मैं आत्मा शान्त स्वरूप हूँ, शान्ति के सागर बाप का बच्चा हूँ। जो बाप स्वर्ग की स्थापना करते हैं, वही बाप हमको पवित्र, शान्त-स्वरूप बनाते हैं। मुख्य बात है पवित्रता की। पवित्र दुनिया और अपवित्र दुनिया है। पवित्र दुनिया में एक भी विकार नहीं। अपवित्र दुनिया में 5 विकार हैं इसलिए कहा जाता है विकारी दुनिया। वह है निर्विकारी दुनिया। निर्विकारी दुनिया से सीढ़ी उतरते-उतरते फिर नीचे विकारी दुनिया में आते हैं। वह है पावन दुनिया, यह है पतित दुनिया। रामराज्य और रावणराज्य है ना! समय पर दिन और रात गाये हुए हैं। ब्रह्मा का दिन और ब्रह्मा की रात। दिन सुख, रात दु:ख। रात भटकने की होती है। यूँ तो रात में कोई भटकना नहीं होता है परन्तु भक्ति को भटकना कहा जाता है। तुम बच्चे यहाँ आये हो सद्गति पाने के लिए। तुम्हारी आत्मा में 5 विकारों के कारण पाप थे, उनमें भी मुख्य है काम विकार, जिससे ही मनुष्य पाप आत्मा बनते हैं। यह तो हर एक जानते हैं हम पतित हैं। भ्रष्टाचार से पैदा हुए हैं। एक काम विकार के कारण सारी क्वालिफिकेशन बिगड़ पड़ती हैं इसलिए बाप कहते हैं इस काम विकार को जीतो तो जगतजीत नई दुनिया के मालिक बनेंगे। तो अन्दर में इतनी खुशी रहनी चाहिए। मनुष्य पतित बनते हैं तो कुछ समझते नहीं। इस काम पर ही कितने हंगामें होते हैं। कितनी अशान्ति, हाहाकार हो जाता है। इस समय दुनिया में हाहाकार क्यों है? क्योंकि सभी पाप आत्मायें हैं। विकारों के कारण ही असुर कहा जाता है। अभी बाप द्वारा समझते हो हम तो बिल्कुल कौड़ी मिसल वर्थ नाट ए पेनी थे। काम की जो चीज़ नहीं उसे आग में जलाया जाता है। अभी तुम बच्चे समझते हो दुनिया में कोई काम की चीज़ नहीं। सभी मनुष्य मात्र को आग लगनी है। जो कुछ इन आंखों से देखते हैं, सबको आग लग जायेगी। आत्मा को तो आग लगती नहीं। आत्मा तो जैसे इनश्योर है। आत्मा को कभी इनश्योर कराते हैं क्या? इनश्योर तो शरीर को कराते हैं। बच्चों को समझाया गया है, यह खेल है। आत्मा तो ऊपर में 5 तत्वों से भी ऊपर रहती है। 5 तत्वों से ही सारी दुनिया की सामग्री बनती है। आत्मा तो नहीं बनती, आत्मा तो सदैव है ही। सिर्फ पुण्य आत्मा, पाप आत्मा बनती है। 5 विकारों से आत्मा कितनी गन्दी बन पड़ती है। अभी बाप आये हैं पापों से छुड़ाने। विकार से सारा कैरेक्टर्स बिगड़ता है। कैरेक्टर्स किसको कहा जाता है-यह भी किसको पता नहीं है। गाया भी हुआ है पाण्डव राज्य, कौरव राज्य। अभी पाण्डव कौन हैं, यह भी कोई नहीं जानते। अभी तुम समझते हो हम ईश्वरीय गवर्मेन्ट के हैं। बाप आये हैं रामराज्य स्थापन करने। इस समय ईश्वरीय गवर्मेन्ट क्या करती है? आत्माओं को पावन बनाकर देवता बनाती है। नहीं तो फिर देवता कहाँ से आये-यह कोई नहीं जानते इसलिए इसको गुप्त गवर्मेन्ट कहा जाता है। हैं तो यह भी मनुष्य परन्तु देवता कैसे बनें, किसने बनाया? देवी-देवता तो होते ही हैं स्वर्ग में। तो उन्हों को स्वर्गवासी किसने बनाया। स्वर्गवासी से फिर नर्कवासी बनते हैं। फिर नर्कवासी सो स्वर्गवासी बनते हैं। यह तुम भी नहीं जानते थे। फिर और कैसे जानेंगे। स्वर्ग सतयुग को, नर्क कलियुग को कहा जाता है। यह भी तुम अभी समझते हो। यह ड्रामा बना हुआ है। यह पढ़ाई है ही पतित से पावन बनने की। आत्मा ही पतित बनती है। पतित से पावन बनाना-यह धन्धा बाप ने तुम्हें सिखलाया है। पावन बनो तो पावन दुनिया में चलेंगे। आत्मा ही पावन बने तब तो स्वर्ग के लायक बने। यह ज्ञान तुम्हें इस संगम पर ही मिलता है। पवित्र बनने का हथियार मिलता है। पतित-पावन एक बाबा को ही कहा जाता है। कहते हैं हमको पावन बनाओ। यह लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग के मालिक थे। फिर 84 जन्म ले पतित बने हैं। श्याम और सुन्दर, इनका नाम भी ऐसा रखा हुआ है परन्तु मनुष्य अर्थ थोड़ेही समझते हैं। कृष्ण की भी क्लीयर समझानी मिलती है। इनमें दो दुनियायें कर दी हैं। वास्तव में दुनिया तो एक ही है। वह नई और पुरानी होती है। पहले छोटे बच्चे फिर बड़े बन बूढ़े होते हैं। दुनिया भी नई सो पुरानी होती है। तुम कितना माथा मारते हो समझाने लिए। अपनी राजधानी स्थापन कर रहे हो ना। इन्होंने भी समझा है ना। समझ से कितने मीठे बने हैं। किसने समझाया? भगवान ने। लड़ाई आदि की तो बात ही नहीं। भगवान कितना समझदार, नॉलेजफुल बनाते हैं। शिव के मन्दिर में जाकर नमन करते हैं परन्तु वह क्या है, कौन है, यह कोई नहीं जानते। शिव काशी विश्वनाथ गंगा….. बस सिर्फ कहते रहते हैं, अर्थ ज़रा भी नहीं समझते। समझाओ तो कहेंगे तुम हमको क्या समझायेंगे, हम तो वेद-शास्त्र आदि सब पढ़े हुए हैं। तुम बच्चों में नम्बरवार हैं जो यह धारणा करते हैं। कई तो भूल जाते हैं क्योंकि बिल्कुल पत्थरबुद्धि बन गये हैं। तो अभी जो पारसबुद्धि बने हैं उन्हों का काम है औरों को भी पारसबुद्धि बनाना। पत्थरबुद्धि की एक्टिविटी ही ऐसी चलती है क्योंकि हंस-बगुले हुए ना। हंस कभी किसको दु:ख नहीं देते। बगुले दु:ख देते हैं। उन्हें असुर कहा जाता है। पहचान नहीं रहती। बहुत सेन्टर्स पर भी ऐसे विकारी बहुत आ जाते हैं। बहाना बनाते हैं हम पवित्र रहते हैं परन्तु है झूठ। कहा भी जाता है झूठी दुनिया….। अभी है संगम। कितना फर्क रहता है। जो झूठ बोलते, झूठा काम करते, वही थर्ड ग्रेड बनते हैं। फर्स्ट, सेकण्ड, थर्ड ग्रेड होती हैं ना। बाप बता सकते हैं – यह थर्ड ग्रेड हैं।

बाप समझाते हैं पवित्रता का पूरा सबूत देना है। कई कहते हैं आप दोनों इकट्ठे रहते पवित्र रहते हो-यह तो असम्भव है। लेकिन बच्चों में योगबल न होने कारण इतनी सहज बात भी पूरी रीति समझा नहीं सकते हैं। उनको यह बात कोई नहीं समझाते कि यहाँ हमको भगवान पढ़ाते हैं। वह कहते हैं पवित्र बनने से तुम 21 जन्म स्वर्ग के मालिक बनेंगे। जबरदस्त लॉटरी मिलती है। हमको और ही खुशी होती है। कई बच्चे गन्धर्वी विवाह कर पवित्र रहकर दिखाते हैं। देवी-देवतायें पवित्र हैं ना। अपवित्र से पवित्र तो एक बाप ही बनायेंगे। यह भी समझाया है ज्ञान, भक्ति, वैराग्य। ज्ञान और भक्ति आधा-आधा है फिर भक्ति के बाद है वैराग्य। अभी इस पतित दुनिया में नहीं रहना है, यह कपड़े उतार घर जाना है। 84 का चक्र अभी पूरा हुआ। अभी हम जाते हैं शान्तिधाम। पहली-पहली अल्फ की बात नहीं भूलनी है। यह भी बच्चे समझते हैं यह पुरानी दुनिया खत्म जरूर होनी है। बाप नई दुनिया स्थापन करते हैं। बाप अनेक बार नई दुनिया स्थापन करने आये हैं फिर नर्क का विनाश हो जाता है। नर्क कितना बड़ा है, स्वर्ग कितना छोटा है। नई दुनिया में है एक धर्म। यहाँ तो कितने ढेर धर्म हैं। लिखा हुआ भी है शंकर द्वारा विनाश। अनेक धर्मों का विनाश होता है फिर ब्रह्मा द्वारा एक धर्म की स्थापना होती है। यह धर्म किसने स्थापन किया? ब्रह्मा ने तो नहीं किया! ब्रह्मा ही पतित से फिर पावन बनते हैं। मेरे लिए तो नहीं कहेंगे पतित से पावन। पावन हैं तो लक्ष्मी-नारायण नाम है, पतित हैं तो ब्रह्मा नाम है। ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात। उनको (शिवबाबा को) अनादि क्रियेटर कहा जाता है। आत्मायें तो हैं ही हैं। आत्माओं का क्रियेटर नहीं कहेंगे इसलिए अनादि कहा जाता है। बाप अनादि तो आत्मायें भी अनादि हैं। खेल भी अनादि है। यह अनादि बना बनाया ड्रामा है। स्व आत्मा को सृष्टि चक्र के आदि, मध्य, अन्त के ड्युरेशन का ज्ञान मिलता है। यह किसने दिया? बाप ने। तुम 21 जन्म के लिए धणी के बन जाते हो फिर रावण के राज्य में निधन के बन जाते हो। फिर कैरेक्टर्स बिगड़ने लगते हैं। विकार हैं ना। मनुष्य समझते हैं नर्क-स्वर्ग सब इकट्ठे चलते हैं। अभी तुम बच्चों को कितना क्लीयर समझाया जाता है। अभी तुम गुप्त हो, शास्त्रों में क्या-क्या लिख दिया है। कितना सूत मूँझा हुआ है। बाप को ही बुलाते हैं हम कोई काम के नहीं रहे हैं। आकर पावन बनाकर हमारे कैरेक्टर्स सुधारो। तुम्हारे कितने कैरेक्टर्स सुधरते हैं। कई तो सुधरने के बदले और ही बिगड़ते हैं। चलन से ही मालूम पड़ जाता है। आज हंस कहलाते हैं, कल बगुला बन पड़ते हैं। देरी नहीं लगती है। माया भी बड़ी गुप्त है। यहाँ कुछ देखने में आता थोड़ेही है। बाहर निकलने से दिखाई पड़ता है फिर आश्चर्यवत् सुनन्ती….. भागन्ती हो जाते हैं। इतनी जोर से गिरते जो हडगुड ही टूट जाते हैं। इन्द्रप्रस्थ की बात है। मालूम तो पड़ ही जाता है। ऐसे को फिर सभा में नहीं आना चाहिए। थोड़ा बहुत ज्ञान सुना है तो स्वर्ग में आ ही जाते हैं। ज्ञान का विनाश नहीं होता है। अभी बाप कहते हैं पुरूषार्थ कर ऊंच पद को पाओ। अगर विकार में गये तो पद भ्रष्ट हो जायेगा। अभी तुम समझते हो यह चक्र कैसे फिरता है।

अभी तुम बच्चों की बुद्धि कितनी पलटती है फिर भी माया धोखा जरूर देती है। इच्छा मात्रम् अविद्या। कोई इच्छा रखी तो गया। वर्थ नाट ए पेनी बन जाते हैं। अच्छे-अच्छे महारथियों को भी माया किसी न किसी प्रकार से धोखा दे देती है फिर वह दिल पर चढ़ नहीं सकते हैं। कोई तो बच्चे ऐसे होते हैं जो बाप को भी खत्म करने में देरी नहीं करते। परिवार को भी खत्म कर देते हैं। महान् पाप आत्मायें हैं। रावण क्या-क्या करा देता है। बहुत ऩफरत आती है। कितनी डर्टी दुनिया है, इससे कभी दिल नहीं लगानी है। पवित्र बनने की बड़ी हिम्मत चाहिए। विश्व के बादशाही की प्राइज़ लेने के लिए पवित्रता है मुख्य। पवित्रता पर कितने हंगामें होते हैं। गांधी भी कहते थे हे पतित-पावन आओ। अब बाप कहते हैं हिस्ट्री-जॉग्राफी फिर से रिपीट होती है। सबको वापिस आना ही है, तब तो इकट्ठा जावें। बाप भी तो आये हैं ना-सबको घर ले जाने के लिए। बाप के आने बिगर कोई वापिस जा न सके। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) माया के धोखे से बचने के लिए किसी भी प्रकार की इच्छा नहीं रखनी है। इच्छा मात्रम् अविद्या बनना है।

2) विश्व के बादशाही की प्राइज़ लेने के लिए मुख्य है पवित्रता, इसलिए पवित्र बनने की हिम्मत रखनी है। अपने कैरेक्टर्स सुधारने हैं।

वरदान:- रहम की भावना द्वारा निमित्त भाव से सेवा करने वाले सर्व लगाव मुक्त भव
वर्तमान समय जब सभी आत्मायें थक कर निराश हो मर्सी मांगती हैं। तो आप दाता के बच्चे अपने भाई बहिनों पर रहमदिल बनो। कोई कितना भी बुरा हो, उसके प्रति भी रहम की भावना हो तो कभी घृणा, ईर्ष्या वा क्रोध की भावना नहीं आयेगी। रहम की भावना सहज निमित्त भाव इमर्ज कर देती है, लगाव से रहम नहीं लेकिन सच्चा रहम लगाव मुक्त बना देता है क्योंकि उसमें देह भान नहीं होता।
स्लोगन:- दूसरों को सहयोग देना ही स्वयं के खाते जमा करना है।

BRAHMA KUMARIS MURLI 5 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 November 2018

To Read Murli 4 November 2018 :- Click Here
05-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – एवरहेल्दी-एवरवेल्दी बनने के लिए तुम अभी डायरेक्ट अपना तन-मन-धन इन्श्योर करो, इस समय ही यह बेहद का इन्श्योरेन्स होता है”
प्रश्नः- आपस में एक-दूसरे को कौन-सी स्मृति दिलाते उन्नति को पाना है?
उत्तर:- एक-दूसरे को स्मृति दिलाओ कि अब नाटक पूरा हुआ, वापस घर चलना है। अनेक बार यह पार्ट बजाया, 84 जन्म पूरे किये, अब शरीर रूपी वस्त्र उतार घर चलेंगे। यही है तुम रूहानी सोशल वर्कर की सेवा। तुम रूहानी सोशल वर्कर सबको यही सन्देश देते रहो कि देह सहित देह के सब सम्बन्धों को भूल बाप और घर को याद करो।
गीत:- छोड़ भी दे आकाश सिंहासन…….. 

ओम् शान्ति। जहाँ गीता की पाठशालायें होती हैं वहाँ अक्सर करके यह गीत गाते हैं। गीता सुनाने वाले पहले यह श्लोक गाते हैं। यह जानते तो नहीं हैं कि किसको बुलाते हैं। इस समय धर्म ग्लानि है। पहले है प्रार्थना फिर वह रेसपान्स करते हैं आओ, फिर से आकर गीता ज्ञान सुनाओ क्योंकि पाप बहुत बढ़ गये हैं। वह फिर रेसपान्स करते हैं कि हाँ, जबकि भारत के लोग पाप आत्मा दु:खी बन जाते हैं, धर्म ग्लानि हो पड़ती है तब मैं आता हूँ। स्वरूप बदलना पड़ता है जरूर मनुष्य तन में ही आयेंगे। रूप तो सब आत्मायें बदलती हैं। तुम आत्मायें असुल निराकारी हो फिर यहाँ आकर साकारी बनती हो। मनुष्य कहलाती हो। अभी मनुष्य पापात्मा, पतित हैं तो मुझे भी अपना रूप रचना पड़े। जैसे तुम निराकार से साकारी बने हो, मुझे भी बनना पड़े। इस पतित दुनिया में तो श्रीकृष्ण आ न सके। वह तो है स्वर्ग का मालिक। समझते हैं श्रीकृष्ण ने गीता सुनाई परन्तु कृष्ण तो पतित दुनिया में हो न सके। उनका नाम, रूप, देश, काल, एक्ट सब बिल्कुल अलग है। यह बाप बतलाते हैं। कृष्ण को तो अपने मात-पिता हैं, उसने माँ के गर्भ से अपना रूप रचा। मैं तो गर्भ में नहीं जाता। मुझे रथ तो जरूर चाहिए। मैं इनके बहुत जन्मों के अन्त के जन्म में प्रवेश करता हूँ। पहला नम्बर तो है श्रीकृष्ण। इनके बहुत जन्मों के अन्त का जन्म हुआ 84वाँ जन्म। तो मैं इसमें ही आता हूँ। यह अपने जन्मों को नहीं जानते हैं। श्रीकृष्ण तो ऐसे नहीं कहते कि मैं अपने जन्मों को नहीं जानता हूँ। भगवान् कहते हैं जिसमें मैंने प्रवेश किया है, वह अपने जन्मों को नहीं जानता। मैं जानता हूँ, कृष्ण तो राजधानी का मालिक है। सतयुग में है सूर्यवंशी राज्य, विष्णुपुरी। विष्णु कहा जाता है लक्ष्मी-नारायण को। कहाँ भी भाषण होता है तो यह रिकार्ड काफी है क्योंकि यह तो भारतवासी खुद गाते हैं। जब धर्म प्राय: लोप हो जाए तब तो फिर से गीता सुनाऊं। वही धर्म फिर से स्थापन करना है। उस धर्म के कोई मनुष्य ही नहीं हैं तो फिर गीता का ज्ञान कहाँ से निकला? बाप समझाते हैं – सतयुग-त्रेता में कोई शास्त्र आदि होते नहीं। यह सब है भक्ति मार्ग की सामग्री, इन द्वारा मेरे साथ कोई मिल नहीं सकते। मुझे तो आना पड़ता है, आकर सबको सद्गति देता हूँ वाया गति। सबको वापिस जाना पड़ता है। गति में जाकर फिर स्वर्ग में आना है। मुक्ति में जाकर फिर जीवनमुक्ति में आना है। बाप कहते हैं एक सेकेण्ड में जीवनमुक्ति मिल सकती है। गाया हुआ है गृहस्थ व्यवहार में रहते एक सेकेण्ड में जीवनमुक्ति अर्थात् दु:ख रहित। सन्यासी तो जीवनमुक्त बना न सकें। वह तो जीवनमुक्ति को मानते ही नहीं। इन सन्यासियों का धर्म सतयुग में तो होता ही नहीं है। सन्यास धर्म तो बाद में होता है। इस्लामी, बौद्धी आदि यह सब सतयुग में नहीं आयेंगे। अभी और सब धर्म हैं बाकी देवता धर्म है नहीं। वे सब और धर्मों में चले गये हैं। अपने धर्म का पता नहीं है। कोई भी अपने को देवता धर्म का मानते ही नहीं। जयहिन्द कहते हैं – वह तो बाप है नहीं। भारत की जय, भारत की खय (हार) कब होती है – यह थोड़ेही कोई जानते हैं। भारत की जय तब होती है जब राज्य-भाग्य मिलता है, जब पुरानी दुनिया का विनाश होता है। खय करता है रावण। जय करते हैं राम। ‘जय भारत’ कहेंगे। ‘जय हिन्द’ नहीं। अक्षर बदल दिया है। गीता के अक्षर अच्छे-अच्छे हैं।

ऊंच ते ऊंच है भगवान्, कहते हैं मेरा कोई मात-पिता नहीं है। मुझे अपना रूप आपेही बनाना पड़ता है। मैं इनमें प्रवेश करता हूँ। कृष्ण को माता ने जन्म दिया। मैं तो क्रियेटर हूँ। ड्रामा अनुसार यह भक्तिमार्ग के लिए सब शास्त्र आदि बने हुए हैं। यह गीता, भागवत आदि सब देवता धर्म पर ही बनाये हुए हैं। जबकि बाप ने देवी-देवता धर्म की स्थापना की है, वह पास्ट हो गया फिर फ्युचर होगा। आदि-मध्य-अन्त को, पास्ट प्रेजन्ट और फ्युचर कहते हैं। इसमें आदि-मध्य-अन्त का अर्थ अलग है। जो पास्ट हो गया वही फिर प्रेजन्ट होता है। जो पास्ट की कहानी सुनाते हैं वह फ्युचर में रिपीट होगी। मनुष्य इन बातों को नहीं जानते। जो पास्ट होता है, उनकी कहानी बाबा प्रेजन्ट में सुनाते हैं फिर फ्युचर में रिपीट होगी। बड़ी समझने की बातें हैं, बड़ी रिफाइन बुद्धि चाहिए। कहाँ भी तुमको बुलाते हैं तो भाषण बच्चों को करना है। सन शोज़ फादर। बच्चे बतायेंगे हमारा फादर कौन है। फादर तो जरूर चाहिए, नहीं तो वर्सा कैसे लेंगे। तुम तो बहुत ऊंचे से ऊंचे हो परन्तु इन बड़े आदमियों को भी मान देना पड़ता है। तुम्हें सबको बाप का परिचय देना है। सब गॉड फादर को पुकारते हैं, प्रार्थना करते हैं – हे गॉड फादर आओ लेकिन वह है कौन। तुम्हें शिवबाबा की भी महिमा करनी है, श्रीकृष्ण की भी महिमा करनी है और भारत की भी महिमा करनी है। भारत शिवालय, हेविन था। 5 हजार वर्ष पहले देवी-देवताओं का राज्य था, वह किसने स्थापन किया? जरूर ऊंच ते ऊंच भगवान् ने। ऊंच ते ऊंच निराकार परमपिता परमात्मा शिवाए नम: हुआ। शिव जयन्ती भारतवासी मनाते हैं परन्तु शिव कब पधारे थे, यह किसको पता नहीं है। जरूर हेविन से पहले संगम पर आया होगा। कहते हैं कल्प-कल्प के संगमयुगे-युगे आता हूँ, हर एक युग में नहीं। अगर हर एक युग कहो तो भी 4 अवतार होने चाहिए। उन्होंने तो कितने अवतार दिखाये हैं। ऊंचे से ऊंचा एक बाप है जो ही हेविन रचते हैं। भारत ही हेविन था, वाइसलेस था फिर तुम यह प्रश्न उठा नहीं सकते हो कि बच्चे कैसे पैदा होते हैं। वह तो जो रस्म-रिवाज होगी वह चलेगी। तुम क्यों फिक्र करते हो। पहले तुम बाप को तो जानो। वहाँ आत्मा का ज्ञान रहता है। हम आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हैं। रोने की बात नहीं। कभी अकाले मृत्यु नहीं होती है। खुशी से शरीर छोड़ देते हैं। तो बाप ने समझाया है मैं कैसे रूप बदलकर आता हूँ। कृष्ण के लिए नहीं कहेंगे। वह तो गर्भ से जन्म लेते हैं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर है सूक्ष्मवतनवासी। प्रजापिता तो जरूर यहाँ चाहिए, हम उनकी सन्तान हैं। वह निराकार बाप अविनाशी है, हम आत्मायें भी अविनाशी हैं। परन्तु हमको पुनर्जन्म में जरूर आना है। यह ड्रामा बना हुआ है। कहते हैं फिर से आकर गीता का ज्ञान सुनाओ, तो जरूर सब चक्र में आयेंगे, जो होकर गये हैं। बाप भी होकर गये हैं फिर आये हुए हैं। कहते हैं फिर से आकर गीता सुनाता हूँ। बुलाते हैं पतित-पावन आओ तो जरूर पतित दुनिया है। सब पतित हैं तब तो पाप धोने के लिए गंगा स्नान करने जाते हैं। स्वर्ग में यह भारत ही था, भारत है ऊंच अविनाशी खण्ड सबका तीर्थ स्थान। सब मनुष्य-मात्र पतित हैं। सबको जीवनमुक्ति देने वाला वह बाप है। जरूर जो इतनी बड़ी सर्विस करते हैं, उनकी महिमा गानी चाहिए। अविनाशी बाप का बर्थप्लेस है भारत। वही सबको पावन बनाने वाला है। बाप अपने बर्थ प्लेस को छोड़ और कहाँ जा न सके। तो बाप बैठ समझाते हैं मैं कैसे रूप रचता हूँ।

सारा मदार धारणा पर है। धारणा पर ही तुम बच्चों का मर्तबा है। सबकी मुरली एक जैसी हो नहीं सकती। भल काठ की मुरली सब बजायें तो भी एक जैसी नहीं बजा सकते। हर एक की एक्ट का पार्ट अलग है। इतनी छोटी-सी आत्मा में कितना भारी पार्ट है। परमात्मा भी कहते हैं हम पार्टधारी हैं। जब धर्म ग्लानी होती है तब मैं आता हूँ। भक्ति मार्ग में भी मैं देता हूँ। ईश्वर अर्थ दान-पुण्य करते हैं तो ईश्वर ही उनका फल देते हैं। सब अपने को इन्श्योर करते हैं। जानते हैं इसका फल दूसरे जन्म में मिलेगा। तुम इन्श्योर करते हो 21 जन्मों के लिए। वह है हद का इन्श्योरेन्स, इन्डायरेक्ट और यह है बेहद का इन्श्योरेन्स, डायरेक्ट। तुम तन-मन-धन से अपने को इन्श्योर करते हो फिर अथाह धन पायेंगे। एवर-हेल्दी, वेल्दी बनेंगे। तुम डायरेक्ट इन्श्योर कर रहे हो। मनुष्य ईश्वर अर्थ दान करते हैं, समझते हैं ईश्वर देगा। वह कैसे दिलाते हैं यह थोड़ेही समझते हैं। मनुष्य समझते हैं जो कुछ मिलता है ईश्वर देता है। ईश्वर ने बच्चा दिया, अच्छा, देते हैं तो फिर लेंगे भी जरूर। तुम सबको मरना जरूर है। साथ कुछ भी तो नहीं जायेगा। यह शरीर भी खत्म होना है इसलिए अब जो इन्श्योर करना है वह करो फिर 21 जन्म इन्श्योर हो जायेंगे। ऐसे नहीं कि इन्श्योर कर और सर्विस कुछ भी न करो, यहाँ ही खाते रहो। सर्विस तो करनी है ना। तुम्हारा खर्चा भी तो चलता है ना। इन्श्योर कर और खाते ही रहते तो मिलेगा कुछ नहीं। मिले तब जब सर्विस करो तो ऊंच पद भी पायेंगे। जितना जो जास्ती सर्विस करते हैं, उतना जास्ती मिलता है। थोड़ी सर्विस तो थोड़ा मिलेगा। गवर्मेन्ट के सोशल वर्कर भी नम्बरवार होते हैं। उनके बड़े-बड़े हेड्स होते हैं। अनेक प्रकार के सोशल वर्कर्स हैं। वह हैं जिस्मानी, तुम्हारी है रूहानी सर्विस। हर एक को तुम यात्री बनाते हो। यह है बाप के पास जाने की रूहानी यात्रा। बाप कहते हैं देह सहित देह के सब सम्बन्धों को और गुरू गोसाई आदि को भी छोड़ो। मामेकम् याद करो। परमपिता परमात्मा निराकार है, साकार रूप धारण कर समझाते हैं। कहते हैं मैं लोन लेता हूँ, प्रकृति का आधार लेता हूँ। तुम भी नंगे आये थे, अब फिर सबको वापिस जाना है। सब धर्म वालों को कहते हैं, मौत सामने खड़ा है। यादव, कौरव खलास हो जायेंगे। बाकी पाण्डव फिर आकर राज्य करेंगे। यह गीता एपीसोड रिपीट हो रहा है। पुरानी दुनिया का विनाश होना है, 84 जन्म लेते-लेते अब यह ओल्ड हो गया है। 84 जन्म पूरे हुए, नाटक पूरा हुआ। अब वापिस जाना है, शरीर छोड़ घर जाते हैं। एक-दो को यही स्मृति दिलाते हैं – अभी वापिस जाना है। अनेक बार यह पार्ट बजाया है 84 जन्मों का। यह नाटक अनादि बना हुआ है, जो-जो जिस धर्म वाले हैं, उनको अपने सेक्शन में जाना है। जो देवी-देवता धर्म प्राय:लोप हो गया है, उनके लिए सैपलिंग लग रही है। जो फूल होंगे वह आ जायेंगे। अच्छे-अच्छे फूल आते हैं फिर माया का तूफान लगने से गिर पड़ते हैं फिर ज्ञान की संजीवनी बूटी मिलने से उठ पड़ते हैं। बाप भी कहते हैं तुम शास्त्र पढ़ते आये हो। बरोबर इनके गुरू आदि भी थे। बाप कहते हैं गुरूओं सहित सबकी सद्गति करने वाला एक ही है। एक सेकेण्ड में मुक्ति-जीवनमुक्ति। राजा-रानी तो प्रवृत्ति मार्ग हो गया। वाइसलेस प्रवृत्ति मार्ग था। अब सम्पूर्ण विशश हैं। वहाँ रावण का राज्य होता नहीं। रावण का राज्य आधाकल्प से शुरू होता है, भारतवासी ही रावण से हार खाते हैं। बाकी और सब धर्म वाले अपने-अपने समय पर सतो, रजो, तमो से पास होते हैं। पहले सुख फिर दु:ख में आते हैं। मुक्ति के बाद जीवनमुक्ति है ही। इस समय सब तमोप्रधान जड़जड़ीभूत हैं, हर आत्मा एक शरीर छोड़ फिर दूसरा नया शरीर लेती है। बाप कहते हैं मैं जन्म-मरण में नहीं आता हूँ। मेरा कोई बाप हो नहीं सकता। और सबको तो बाप हैं। कृष्ण का भी जन्म माँ के गर्भ से होता है। यही ब्रह्मा जब राज्य लेंगे तब गर्भ से जन्म लेंगे। इनको ही ओल्ड से न्यु बनना है। 84 जन्मों का ओल्ड है। मुश्किल कोई को यथार्थ बुद्धि में बैठता है और नशा चढ़ता है। यह कस्तुरी नॉलेज है खुशबूदार। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) रूहानी सोशल वर्कर बन सबको रूहानी यात्रा सिखानी है। अपने देवी-देवता धर्म की सैपलिंग लगानी है।

2) अपनी रिफाइन बुद्धि से बाप का शो करना है। पहले स्वयं में धारणा कर फिर दूसरों को सुनाना है।

वरदान:- सबको अमर ज्ञान दे अकाले मृत्यु के भय से छुड़ाने वाले शक्तिशाली सेवाधारी भव
दुनिया में आजकल अकाले मृत्यु का ही डर है। डर से खा भी रहे हैं, चल भी रहे हैं, सो भी रहे हैं। ऐसी आत्माओं को खुशी की बात सुनाकर भय से छुड़ाओ। उन्हें खुशखबरी सुनाओ कि हम आपको 21 जन्मों के लिए अकाले मृत्यु से बचा सकते हैं। हर आत्मा को अमर ज्ञान दे अमर बनाओ जिससे वे जन्म-जन्म के लिए अकाले मृत्यु से बच जाएं। ऐसे अपने शान्ति और सुख के वायब्रेशन से लोगों को सुख-चैन की अनुभूति कराने वाले शक्तिशाली सेवाधारी बनो।
स्लोगन:- याद और सेवा का बैलेन्स रखने से ही सर्व की दुआयें मिलती हैं।

TODAY MURLI 5 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 4 November 2018 :- Click Here

05/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to become ever healthy and ever wealthy, you now have to insure your body, mind and wealth directly. It is only at this time that you can take out unlimited insura nce.
Question: What should you remind one another about so that you can all progress?
Answer: Remind one another that the drama is about to end and that we have to return home. We have played these parts innumerable times before. We have completed our 84 births. We will now remove these costumes, these bodies, and return home. This is the service of you spiritual socialworkers. You spiritual social workers must continue to give this message to everyone: Forget your body and all your bodily relations and remember the Father and the home.
Song: Leave Your throne in the sky and come down to earth! 

Om shanti. This song is especially sung where there are Gita Pathshalas (Gita study-places). Those who speak the Gita first sing this verse, but they don’t understand who it is they are calling out to. At this time, there is defamation of religion. First, there are the prayers, then there is the response (from the Gita). They call out: Come and speak the knowledge of the Gita because sin has increased a lot. Then, there is the response (from the Gita): When the souls of Bharat become unhappy and sinful, when there is defamation of religion, it is then that I come. He has to change His form, and so He would surely enter a human body. All souls change their form. You souls are originally incorporeal, you become corporeal when you come here and you are then called human beings. Human souls are now impure and sinful and so I have to change My form and come. Just as you become corporeal from incorporeal, in the same way, I also have to become this. Shri Krishna cannot come into this impure world; he is the master of heaven. People think that Shri Krishna spoke the Gita, but Krishna cannot exist in this impure world. His name, form, country, time and act are totally separate from this. The Father explains all of this. Krishna has his own mother and father; he has his form created in his mother’s womb. I do not enter a womb, but I definitely do need a chariot. I enter this one when he is in the final one of his many births. He is Shri Krishna in his first birth. This birth is now his 84th and final one of his many births. Therefore, I enter him. He did not know of his births. Shri Krishna does not say that he does not know of his own births. God says: The one whom I enter did not know his own births. Only I know this. Krishna is the master of the kingdom. In the golden age, there is the sun-dynasty kingdom; it is the land of Vishnu. The combined form of Lakshmi and Narayan is called Vishnu. Wherever you give a lecture, it is enough to play this song because the people of Bharat sing this song themselves. Only when this religion has disappeared can I come and speak the Gita again and establish the same religion again. Since there are no human beings of that religion now, where did the knowledge of the Gita emerge from? The Father explains: There are no scriptures etc. in the golden and silver ages. All of those are the paraphernalia of the path of devotion. No one can meet Me through them. I definitely have to come. I come and grant all of you salvation via liberation. Everyone has to return home. After going into liberation, you will go to heaven. You will go into liberation and then into liberation-in-life. The Father says: You can receive liberation-in-life in a second. It has been said: While living in your household, you can attain liberation-in-life in a second, that is, you can become free from sorrow. Sannyasis cannot grant you liberation-in-life. They don’t even believe in liberation-in-life. The religion of the sannyasis does not exist in the golden age at all. The religion of the sannyasis comes into existence later on. The Islamic religion and the Buddhists etc. are not there in the golden age. All the religions, except the deity religion, are in existence now. They have all been converted to other religions. They do not know of their own religion. No one considers himself to be of the deity religion. They say: “Jayhind” (Victory for Hindustan). However, there is no victory now. No one knows when Bharat is victorious and when Bharat is defeated. Only when you receive your fortune of the kingdom and the old world is destroyed is Bharat victorious. It is Ravan who defeats you and Rama who makes you victorious. It is said: “Victory for Bharat.” It is not “Victory for Hindustan”. They changed the words. The words of the Gita are very good. God, the Highest on High, says: I do not have a mother or father. I have to create My own form for Myself. I enter this one. A mother gives birth to Krishna. I am the Creator. According to the drama, all of those scriptures etc. have been created for the path of devotion. The Gita, the Bhagawad etc. are all created on the basis of the deity religion. The deity religion that the Father created has now passed, and it will exist again in the future. The beginning, the middle and the end are called the pastpresent and future. In this, the beginning, middle and end have a different meaning. That which has become the past will become the present again. Whatever stories are told of the past will be repeated in the future. Human beings don’t know these things. Baba tells you in the present the story of whatever happened in the past and that will be repeated again in the future. These aspects have to be understood and you need a very refined intellect to do this. You children should go and give lectures wherever you are invited to go. Son shows Father! Children will reveal who their Father is. The Father is definitely needed. Otherwise, how could you claim the inheritance? You are the highest on high. However, those eminent people also have to be given respect. You have to give the Father’s introduction to everyone. Everyone calls out: O God, the Father ! They pray to God: O God, the Father, come! However, they don’t know who He is. You have to sing Shiv Baba’s praise, sing Shri Krishna’s praise and also sing the praise of Bharat. Bharat was the Temple of Shiva; it was heaven. Five thousand years ago, it was the kingdom of deities. Who established that? Surely, it must have been God, the Highest on High. Salutations are given to Shiva, the Highest on High, the incorporeal One, who is also called the Supreme Father, the Supreme Soul. Although the people of Bharat celebrate the birthday of Shiva, they don’t know when Shiva came. Surely, He must have come at the confluence age before heaven was created. He says: I come at the confluence age of every cycle, not in every age. Even if He did come in all the ages, there would then have to be four incarnations. They have shown many incarnations. Only the one Father, who creates heaven, is the Highest on High. Bharat was heaven, it was viceless, and so you cannot question how children are born there. Whatever customs and systems exist, it is those that will continue. Why do you worry about that? You should first recognise the Father. There, you have knowledge of the soul. We souls shed bodies and take others. There, there is no question of crying; there is never any untimely death. You shed your bodies in happiness. So the Father has explained how He changes His form and comes. This cannot be said of Krishna. He takes birth through a womb. Brahma, Vishnu and Shankar reside in the subtle region. The Father of Humanity is definitely needed here; we are his children. That incorporeal Father is imperishable and we souls are also imperishable. However, we definitely do have to take birth and rebirth. This drama is predestined. You say: Come and speak the knowledge of the Gita again. All of those who came and went away will definitely come into the cycle. The Father also came and went away and has now come again. He says: I come and speak the Gita to you again. People call out “O Purifier come!” Therefore, this world must definitely be impure. All are impure, which is why they go to wash away their sins by bathing in the Ganges. Heaven existed in this Bharat. Bharat is the highest, the eternal land; it is the pilgrimage place for everyone. All human beings are impure. The Father is the One who grants liberation-in-life to all. The praise must definitely be sung for the One who does such great service. Bharat is the birthplace of the imperishable Father. He is the One who makes everyone pure. The Father cannot leave His birthplace and go somewhere else. Therefore, the Father sits here and explains how He creates His own form. Everything depends on your dharna. Your status depends on how much you imbibe. Not everyone can read the murli in the same way. Even though everyone might be able to play a wooden flute, they wouldn’t all be able to play it in the same way. Everyone acts his part differently. Such a huge role is contained within such a tiny soul! The Supreme Soul says: I too have to play a part. I come when there is defamation of religion. I also give the return on the path of devotion. People give donations and do charity in the name of God, and so it is God who gives the fruit of that. Each one insures himself. They believe that they will receive in their next birth the fruit of what they have given, whereas you insure yourselves for 21 births. That is limited, indirect insurance whereas this is unlimited, direct insurance. You will attain limitless wealth when you insure your mind, body and wealth. You will become ever healthy and wealthy. You are insuring yourselves directly. Human beings donate in the name of God, because they believe that God will give them the return of that. They don’t understand how He gives that return. Human beings think that whatever they have received has been given by God, that God gave them a child. Achcha, if God gives them a child, He can then also take it back. All of you definitely have to die. Nothing will go with you. Your bodies will also finish. Therefore, insure whatever you want now, so that it will be insured for 21 births. It is not that you can insure everything and then not do any service but continue to eat here. You have to do service. The expense of keeping you also continues. If you insure everything and continue to eat here, you will receive nothing. You will receive something when you do service. Only then will you claim a high status. The more service you do, the more you receive. The less service you do, the less you receive. Government social workers are also numberwise. They have many important heads. There are many types of social worker. Theirs is physical service, whereas yours is spiritual service. You make everyone into a pilgrim. This is the spiritual pilgrimage to take you to the Father. The Father says: Renounce the consciousness of your body, your bodily relations and also the gurus etc. and remember Me alone. The Supreme Father, the Supreme Soul, is incorporeal. He adopts a corporeal form in order to explain to you. He says: I take this body on loan; I take the support of matter. You came naked and you now all have to return home again. He says to the souls of all religions that death is standing ahead. The Yadavas and the Kauravas will all be destroyed and the Pandavas will come again to rule their kingdom. The Gita episode is once again repeating. The old world is about to be destroyed. While you have been taking 84 births, this world has become old. Now that you have completed your 84 births, the play is about to end. We now have to return home; we will renounce our bodies and return home. Keep reminding each other that we now have to return home. We have played these parts of 84 births innumerable times. This play is eternally created. People have to return to their own section of the religion they belong to. The sapling of the deity religion that has disappeared is now being planted. Those who were flowers will come again. Many good flowers come, but, due to the storms of Maya, they fall. Then, by receiving the life-giving herb of knowledge, they stand up once again. The Father says: You have been studying scriptures etc. This one also had gurus etc. There is only the One who can grant salvation to all, including the gurus. There is liberation and liberation-in-life in a second. There are the king and queen, and so it becomes the family path. It was the viceless family path, whereas it has now become a completely vicious one. The kingdom of Ravan does not exist there. The kingdom of Ravan begins after half a cycle. It is the people of Bharat who become defeated by Ravan. People of all other religions pass through the stages of sato, rajo and tamo during their own time. First, they have happiness and then they become unhappy. After liberation, there is liberation-in-life. At this time, everyone is completely impure and decayed. Each soul has to shed his body and then take another new one. The Father says: I do not come into the cycle of birth and rebirth. No one can be My father. Everyone else has a father. Even Krishna’s birth takes place through a mother’s womb. This Brahma will take birth through a womb and he then receives the kingdom. It is he who has to become new from old. He is 84 births old. It is with great difficulty that this sits in people’s intellects accurately so that they have great intoxication. This knowledge is like musk; it is very fragrant. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good mor ning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a spiritual social worker and teach everyone this spiritual pilgrimage. Plant the sapling of your deity religion.
  2. Use your refined intellect to reveal the Father. First imbibe everything yourself, and then explain it to others.
Blessing: May you be a powerful server who gives souls this immortal knowledge and liberates them from their fear of untimely death.
People everywhere in the world fear untimely death. They eat in fear, move in fear and also sleep in fear. Tell something of happiness to such souls and liberate them from their fears. Give them the good news that you can save them from untimely death for 21 births. Make every soul immortal by giving them the immortal knowledge with which they are saved from untimely death for birth after birth. With your vibrations of peace and happiness, become powerful servers who give everyone the experience of happiness and comfort.
Slogan: Only by keeping a balance of remembrance and service can you receive everyone’s blessings.

*** Om Shanti ***

Font Resize