5 may ki murli

TODAY MURLI 5 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

05/05/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, follow shrimat and make everyone happy. You have been making everyone unhappy by following devilish dictates. Now give happiness and receive happiness.
Question: By understanding which secret do wise children make effort to claim a high status?
Answer: They understand that this is a play about happiness and sorrow, victory and defeat. The play of happiness will now continue for half the cycle. There will not be any type of sorrow there. The new kingdom is now going to come. For that, the Father has left His supreme region and come here to teach us children. Now make effort and definitely claim a high status.
Song: The world may change, but we will not change.

Om shanti. You sweetest children understood the meaning of that. There is no need to take the oath here. Souls have to have understanding. Because souls are tamopradhan, they have become completely senseless. You children know how senseless you were and how sensible you have now become. Such things do not exist in other spiritual gatherings. They study the scriptures and the Ramayana etc. They just listen with one ear and let it out through the other; there is no attainment there. They do a lot of tapasya, make donations and perform charity etc. They continue to stumble around but they have no attainment. No one in this world has happiness. The Father is now giving you complete understanding. Only the one Father gives everyone peace and happiness. People are in complete darkness. People on the path of devotion continue to remember Him: O Remover of Sorrow! Bestower of Happiness! Bestower of Salvation! Look at what is happening everywhere in the world! Everyone experiences sorrow. No human beings know who the Father is or what inheritance you receive from the Father. They don’t know the unlimited Father at all. They continue to stumble around searching for peace. Who says that they want peace of mind? It is souls who say this, but people don’t even know this much; they are body conscious. All the sages and holy men are unhappy and all of them want peace. Even sages and holy men have illnesses; there are accidents too. There is nothing but sorrow in the world. You have now become wise. The Father has explained: The play about the new world and the old world, happiness and sorrow is created in the drama. The Father has opened the locks on your intellects whereas all other human beings have Godrej locks on their intellects; they have completely tamopradhan intellects. You children know everything, numberwise, according to the efforts you make. You truly have found the unlimited Father. He is telling us the secrets of the beginning, the middle and the end of the world and how this play is created. When there is happiness, there is no mention of sorrow. It is in the intellects of you children that you are claiming your inheritance of peace, happiness and prosperity from the Father. There won’t be any sorrow from the beginning of the golden age to the end of the silver age. You are now in the light. Each of you is making effort to claim a status higher than the next in your own kingdom. This is an unlimited school. The unlimited Father is teaching you. You know that He is your most beloved Father, the One whose praise is limitless. That highest-on-high Father is giving you shrimat. All other human beings continue to make one another unhappy by following devilish dictates. You have to make everyone happy by following shrimat. No one understands how we are actors in this drama. You children now understand that only the people of Bharat have all-round parts in this drama. Previously, you didn’t know anything at all. You now know everything about the incorporeal world, the subtle region and the corporeal world. You now have true knowledge. The Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching us through this one. Baba is giving us all the knowledge of the three worlds. This is a forest of thorns. You children know that you are now changing from thorns into flowers, that is, from humans into deities. Here, everyone, young and old, continues to cause sorrow. Even a baby in the mother’s womb causes her sorrow. This is a very dirty, old world. No one knows this world cycle. No one knows where we came from, how many births we have taken or where we have to go to. The unlimited Father, that is, the one Rama of all the Sitas, is that incorporeal One. All of you are Sitas and the Father is the Bridegroom. All of you are brides, devotees of the one Bridegroom. All the Sitas are now trapped in Ravan’s jail, in the cottage of sorrow. All human beings of the world remember the one God. God is said to be the Protector of all the devotees. All of you are now Brahmins, the mouth-born creation of Brahma. You Brahmins know that Shiv Baba is teaching you. You definitely receive the inheritance from Baba. Shiv Baba is the Creator of heaven. You can call it heaven or the divine kingdom; it is the kingdom of heaven. Lakshmi and Narayan are the masters of heaven. You understand this now. When it was the golden age here, it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. It is now the iron age. Because those poor helpless people are in extreme darkness, they don’t know anything about it now as it is the end of the iron age. Destruction is just ahead. The one Rama is the Bestower of Salvation for all of you Sitas. All Sitas are now in degradation. However, people don’t understand that they are in degradation. They only have the intoxication of their wealth. They say: We have so many properties, so much wealth, so many palaces. No one knows that this world of sorrow is going to change. Death is just standing in front of you. Everything is going to turn to dust. Everything you see in the old world is going to be destroyed. Full preparations are being made for destruction. This is the same Mahabharat War. It is the same God of the Gita. However, they have put the name of the child in the biography of the Father. Shiv Baba is now teaching you Raja Yoga. The biggest mistake is that they have made God’s name disappear. You children know that it is not a human being, sage or holy man who is teaching us. Shiv Baba is teaching us. He is the Father, the Teacher and the Satguru; He is everything. You shouldn’t forget this, should you? The Father says: All are My children, but He does not teach everyone. The Father says: I have come once again to teach Raja Yoga to you people of Bharat. The people of Bharat were residents of heaven. They were like diamonds and have now become like shells. There is so much peacelessness in every home. Some say: Baba, I become angry and I have to discipline my children. I am concerned because I have donated the five vices to Shiv Baba, and so why am I doing this? The Father explains: At this time, there is the eclipse of the five vices over everyone. When the evil spirit of body consciousness comes, all the other evil spirits also come. The Father says: Now become soul conscious! You have now received understanding. We were soul conscious even in the golden age. You understand that this body of the soul has now become old. I have now completed my lifespan. Therefore, I will shed this body and take a new one. When a snake’s skin becomes old, it sheds that one and takes a new one. This is an example of the golden age. There, you shed your body in such a way that there is no question of sorrow. Here, there is so much sorrow. There is so much weeping and wailing. You children now know that this is an old skin. You are not going to receive new skins here. This is the last old shoe and you are now fed up with it. There, you shed a body and take another one in great happiness. You understand these things. So many new ones come here, but they don’t understand anything. They come here for two or four days to understand everything and then they forget everything. Yes, if they listen to everything very carefully and experience happiness, they will come as subjects. Many subjects also have to be created. This is God’s home and doorstep. You are sitting in God’s home. The Supreme Soul has left His supreme region and is now sitting here in an ordinary body. There, souls reside with the Father. Here, Baba Himself has come at the confluence age to purify the impure. He is called incorporeal Shiva. Souls call out to the incorporeal Father: O God, the Father! People say, without any understanding: God, the Father. Europeans call Lakshmi and Narayan a goddess and god. Who made them become like that? People say to the deity idols: You are full of all virtues, 16 celestial degrees full. What do they then say about themselves? They don’t understand that they (deities) were human beings who existed and ruled in Bharat. They go in front of the idols and sing their praise. They continue to call themselves degraded sinners. They even go to a Krishna temple and sing his praise. They would not sing this praise about Shiva. His praise is separate. Generally, when they go to a Shiva Temple, they ask for their aprons to be filled. Then they say that He drinks an intoxicating drink and eats poisonous flowers. How can there be intoxicating drinks or poisonous flowers there? They have no understanding at all! They continue to ask for everything: They want a husband, they want this, that and the other. At Deepmala they invoke Lakshmi. No one knows who she is. Does anyone ever have eight or ten arms? The four-armed image portrays the family path. They have named that image Vishnu. Lakshmi and Narayan live in the golden age. People don’t understand that sustenance takes place through the two forms of Vishnu: Lakshmi and Narayan. They have even shown images of Lakshmi with four arms. Anyone who has four arms would also have children with four arms. They don’t understand anything. You now understand that, until Baba came, even you didn’t know anything. You now know the beginning, the middle and the end of the whole world. The Father comes and purifies the impure world. People call out: O Purifier, come! How can God come? How would He come and purify the impure? The Father says: I created the deity self-sovereignty 5000 years ago. Previously, your intellects had no understanding at all of how you took 84 births. Even this Brahma didn’t know anything. He continued to worship Radhe and Krishna and Lakshmi and Narayan, but he didn’t know that Radhe and Krishna become Lakshmi and Narayan after their marriage. This is why it is said: Princess Radhe and Prince Krishna. After their marriage, they become the empress and emperor. This one who is becoming that didn’t know it himself. Although someone may have visions, he doesn’t understand anything. I still grant visions to devotees to fulfil their desires for a temporary period. There is no question of trance or visions here. The Father explains: If Maya appears in your visions, your status would then be destroyed. Many come and ask for a vision of Shiv Baba. It has been explained to you how tiny fireflies are. They can at least be seen with the eyes. A soul is an even tinier point than that. As is a soul, so is the form of the Supreme Soul. Even if you did have a vision, it would just be of a tiny point. It is just a tiny point that resides in the centre of the forehead. Even if they did have a vision of a soul, they wouldn’t understand anything. You children know that you are the children of Shiv Baba. All you Brahma Kumars and Kumaris are claiming your inheritance from Shiv Baba. This is our aim and objective. You are students. You say that you have come to study easy Raja Yoga with the Father. This is your aim and objective. You children should not forget this. On the path of devotion devotees keep pictures of the deities with them. Therefore, you too should keep a picture of the Trimurti in your pocket. We are becoming Lakshmi and Narayan through Shiv Baba. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Having donated the vices to Shiv Baba, never take them back. Protect yourself from the evil spirit of body consciousness. All other evil spirits come through this evil spirit. Therefore, practise remaining soul conscious.
  2. Don’t have any desire to go into trance or have visions. Make effort while keeping your aim and objective in front of you. Give everyone happiness by following shrimat.
Blessing: May you become an embodiment of authority by having the awareness of yourself and make every action of yours a discipline.
In the physical form, by having the awareness of himself, whatever action Baba performed, that became a discipline for the Brahmin family. By having intoxication of himself, he could say with authority that if anything wrong happened through the sakar form, He would put it right. By having the awareness of his form, he had the intoxication that no action could ever be wrong. When you children remain stable in your own stage, whatever thoughts you have, words you say or actions you perform, they will become a discipline.
Slogan: Make the pillar of purity strong and this pillar will work like a lighthouse.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

05-05-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – श्रीमत पर चलकर सबको सुख दो, आसुरी मत पर दु:ख देते आये, अब सुख दो, सुख लो”
प्रश्नः- बुद्धिवान बच्चे किस राज़ को समझने के कारण ऊंच पद पाने का पुरूषार्थ करते हैं?
उत्तर:- वे समझते हैं कि यह दु:ख और सुख, हार और जीत का खेल है। अभी आधाकल्प सुख का खेल चलने वाला है। वहाँ किसी भी प्रकार का दु:ख नहीं होगा। अब नई राजधानी आने वाली है, उसके लिए बाप अपना परमधाम छोड़कर हम बच्चों को पढ़ाने आये हैं, अब पुरूषार्थ कर ऊंच पद लेना ही है।
गीत:- बदल जाये दुनिया न बदलेंगे हम…

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों ने अर्थ समझा। यहाँ कोई कसम खाने की दरकार नहीं है। यह तो आत्मा में समझ चाहिए। आत्मा तमोप्रधान होने के कारण बिल्कुल ही बेसमझ हो गई है। बच्चे जानते हैं – हम कितने बेसमझ थे। अब कितने समझदार बने हैं। दूसरे सतसंग आदि में यह बातें होती नहीं। वह शास्त्र, रामायण आदि पढ़ते हैं। एक कान से सुना, दूसरे कान से निकल जाता है। कोई प्राप्ति नहीं। यज्ञ, तप, दान-पुण्य आदि बहुत करते हैं, धक्के खाते रहते हैं। प्राप्ति कुछ भी नहीं। इस दुनिया में कोई को सुख है नहीं। अब बाप सारी समझ देते हैं। सबको सुख-शान्ति देने वाला एक ही बाप है। मनुष्य तो बिल्कुल ही घोर अन्धियारे में हैं। भक्ति मार्ग वाले भी याद करते रहते हैं – हे दु:ख हर्ता, सुख कर्ता, सद्गति दाता। देखो, दुनिया में क्या लगा पड़ा है। सबको दु:ख लगा ही रहता है। जो भी मनुष्य मात्र हैं, किसको भी यह पता नहीं है कि बाप कौन है? बाप से क्या वर्सा मिलता है? बेहद के बाप को जानते ही नहीं। धक्के खाते रहते हैं, शान्ति के लिए। अब यह किसने कहा कि मन की शान्ति चाहिए? आत्मा कहती है, यह भी मनुष्य नहीं जानते हैं। देह-अभिमान है ना। साधू-सन्त आदि सब दु:खी हैं, सब शान्ति चाहते हैं। बीमारी आदि तो साधू-सन्तों को भी होती है। एक्सीडेंट होते हैं। दुनिया में दु:ख के सिवाए और कुछ तो है नहीं। अभी तुम बुद्धिवान बने हो। बाप ने समझाया है ड्रामा के अन्दर नई दुनिया और पुरानी दुनिया, सुख और दु:ख का खेल बना हुआ है। बाप ने तुम्हारी बुद्धि का ताला खोला है और सब मनुष्य मात्र की बुद्धि को गोदरेज का ताला लगा हुआ है, बिल्कुल ही तमोप्रधान बुद्धि हैं। तुम बच्चे नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जानते हो। बरोबर बेहद का बाप मिला है, वह हमको सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ सुनाते हैं कि यह खेल कैसे बना हुआ है। जब सुख होता है, तब दु:ख का नाम नहीं होता। तुम बच्चों की बुद्धि में है कि हम बाप से सुख-शान्ति-सम्पत्ति का वर्सा ले रहे हैं। सतयुग से लेकर त्रेता अन्त तक कोई दु:ख नहीं होगा। अब तुम रोशनी में हो। तुम पुरुषार्थ कर रहे हो – अपनी राजधानी में एक दो से ऊंच पद पायें। यह स्कूल है बेहद का। बेहद का बाप पढ़ाते हैं। तुम जानते हो वह हमारा मोस्ट बिलवेड बाप है, जिसकी अपरमअपार महिमा है। वह ऊंच ते ऊंच बाप श्रीमत देते हैं। बाकी सब मनुष्य मात्र आसुरी मत पर एक दो को दु:ख ही देते हैं। तुम्हें श्रीमत पर सबको सुख देना है। इस ड्रामा में हम एक्टर्स हैं, यह कोई भी नहीं जानते। तुम बच्चे अब समझते हो इस ड्रामा में भारतवासियों का ही आलराउन्ड पार्ट है। आगे तो तुम कुछ भी नहीं जानते थे। अब तो मूलवतन से लेकर सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन सबको तुम जान गये हो। तुमको सच्चा ज्ञान है। परमपिता परमात्मा हमको इन द्वारा पढ़ा रहे हैं। बाबा हमको त्रिलोक का सारा ज्ञान दे रहे हैं। यह है ही कांटो का जंगल। बच्चे जानते हैं – अभी हम कांटों से फूल अर्थात् मनुष्य से देवता बनते हैं। यहाँ तो छोटे-बड़े सब दु:ख देते हैं। गर्भ में माता को बच्चे दु:ख देते हैं। यह बहुत ही छी-छी पुरानी दुनिया है। इस सृष्टि चक्र को कोई भी नहीं जानते हैं। हम कहाँ से आये, कितने जन्म लिए, फिर कहाँ जाना है?… कुछ भी नहीं जानते, बेहद का बाप अर्थात् सब सीताओं का एक राम वह निराकार है। तुम सभी सीतायें हो। बाप है ब्राइडग्रूम। एक साजन की सब सजनियाँ, भक्तियाँ हैं। जो भी सीतायें हैं, सब रावण की जेल में फँस शोकवाटिका में आ गई हैं। सारी दुनिया के सब मनुष्य मात्र एक भगवान को याद करते हैं। भक्तों का रक्षक भगवान को कहते हैं। तुम सब अभी ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण हो। ब्राह्मण जानते हैं – हमको शिवबाबा पढ़ा रहे हैं। बाबा से वर्सा जरूर मिलता है। शिवबाबा है स्वर्ग का रचयिता। स्वर्ग कहो अथवा दैवी राजधानी कहो – यह स्वर्ग की राजधानी है ना। लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग के मालिक हैं। यह भी अभी तुम समझते हो। यहाँ जब सतयुग था तो लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। अभी है कलियुग। मनुष्य तो बिचारे घोर अन्धियारे में होने के कारण कुछ नहीं जानते कि अभी कलियुग का अन्त है। विनाश सामने खड़ा है। तुम सब सीताओं का सद्गति दाता एक राम है। सीतायें सब दुर्गति में हैं, परन्तु यह कोई समझते थोड़ेही हैं कि हम दुर्गति में हैं। अपने साहूकारी का ही नशा है। हमको इतने मकान हैं, इतना धन है, इतने महल हैं, किसको पता नहीं कि दु:ख की दुनिया अब बदलनी है। मौत सामने खड़ा है। सब मिट्टी में मिल जाना है। यह जो कुछ पुरानी दुनिया में देखते हो, विनाश हो जायेगा। विनाश के लिए पूरी तैयारियाँ हो रही हैं। यह वही महाभारत लड़ाई है। वही गीता का भगवान है। परन्तु बाप की बायोग्राफी में बच्चे का नाम डाल दिया है। अब शिवबाबा तुमको राजयोग सिखा रहे हैं। बड़े ते बड़ी भूल ही यह है जो भगवान का नाम गुम कर दिया है।

तुम बच्चे जानते हो, हमको कोई मनुष्य, साधू-सन्त आदि नहीं पढ़ाते हैं, शिवबाबा हमको पढ़ाते हैं। वह बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। सब कुछ है। यह तो नहीं भूलना चाहिए ना। बाप कहते हैं – हमारे सब बच्चे हैं परन्तु सभी को थोड़ेही पढ़ायेंगे। बाप कहते हैं – हम भारतवासियों को फिर से राजयोग सिखाने आये हैं। भारतवासी स्वर्गवासी थे, हीरे मिसल थे, अब कौड़ी मिसल बन पड़े हैं। घर में कितनी अशान्ति है। कहते हैं – बाबा हमको क्रोध आता है, बच्चों को मारना पड़ता है। डर लगता है, हमने 5 विकार शिवबाबा को दान दे दिया है फिर हम यह क्यों करते हैं? बाप समझाते हैं – इस समय सभी पर 5 विकारों का ग्रहण लगा हुआ है। देह-अभिमान का भूत आने से फिर सब भूत लग जाते हैं। अब बाप कहते हैं – देही-अभिमानी बनो। अभी तुमको समझ मिली है। सतयुग में भी हम आत्म-अभिमानी थे। समझते हैं – आत्मा का यह शरीर अब पुराना हुआ है। आयु पूरी हुई है इसलिए यह शरीर छोड़ अब नया लेना है। (सर्प का मिसाल) सर्प की एक खाल पुरानी होती है तो फिर दूसरी नई ले लेते हैं। यह दृष्टान्त है सतयुग के लिए। वहाँ तुम ऐसे शरीर छोड़ते हो, दु:ख की कोई बात नहीं रहती। यहाँ कितना दु:ख होता है। रोना-पीटना आदि रहता है। अब तुम बच्चे जानते हो – यह पुरानी खाल है। यहाँ कोई नई खाल नहीं मिलनी है। यह अन्तिम पुरानी जुत्ती है। अभी तुम उनसे तंग हो गये हो। वहाँ तो खुशी से एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं। इन बातों को भी तुम समझते हो। यहाँ कितने नये आते हैं, समझते थोड़ेही हैं। दो-चार रोज़ यहाँ से समझकर जाते हैं फिर भूल जाते हैं। हाँ, अच्छी रीति सुना, खुशी हुई तो प्रजा में आ जायेंगे। प्रजा भी तो ढेर बननी है ना। यह है ईश्वर का दर अथवा घर तुम ईश्वर के घर में बैठे हो। परमपिता अपना परम-धाम छोड़ यहाँ साधारण तन में आकर बैठा है। वहाँ तो बाप के पास आत्मायें रहती हैं। यहाँ संगम पर बाबा खुद आया है – पतितों को पावन बनाने। उनको शिव निराकार ही कहते हैं। निराकार बाबा को आत्मायें ओ गॉड फादर कह पुकारती हैं। मनुष्य बिगर समझ के कह देते हैं ओ गॉड फादर। इन लक्ष्मी-नारायण को भी यूरोपियन लोग भगवती-भगवान कहते हैं। इन्हों को ऐसा किसने बनाया? इन देवताओं को कहते हैं आप सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण हो फिर खुद को क्या कहते हैं? यह नहीं जानते कि यह भी मनुष्य हैं। भारत में ही राज्य करके गये हैं। उनके आगे जाकर महिमा गाते हैं। अपने को नींच पापी कहते रहते हैं। कृष्ण के मन्दिर में भी जाकर महिमा करेंगे। शिव की यह महिमा नहीं करेंगे। उनकी महिमा अलग है। अक्सर करके शिव के पास जाते हैं तो कहते हैं भर दो झोली। फिर कह देते हैं वह भांग पीने वाला है, धतूरा खाने वाला है। अरे वहाँ भांग-धतूरा कहाँ से आई? कुछ भी समझ नहीं। माँगते रहते हैं – पति चाहिए, यह चाहिए….दीपमाला पर भी लक्ष्मी का आह्वान करते हैं। वह है कौन, यह किसको भी पता नहीं। 8-10 भुजायें कभी होती हैं क्या? यह चतुर्भुज रूप दिखाते हैं क्योंकि प्रवृत्ति मार्ग है। उनका नाम विष्णु रख दिया है। लक्ष्मी-नारायण तो सतयुग में रहते हैं। मनुष्य को यह पता नहीं कि विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण द्वारा पालना होती है। चित्रों में लक्ष्मी को 4 भुजायें दे देते हैं। 4 भुजा वाले को बच्चा होगा तो उनको भी 4 भुजा होनी चाहिए। कुछ भी समझते नहीं हैं। तुम अभी समझते हो – बाबा जब तक नहीं आये थे तो हम भी कुछ नहीं जानते थे। अभी सारे विश्व के आदि-मध्य-अन्त को जान गये हैं। बाप आकर पतित दुनिया को पावन बनाते हैं। बुलाते भी हैं – हे पतित-पावन आओ। अब परमात्मा कैसे आये? कैसे आकर पतितों को पावन बनाये? बाप कहते हैं 5 हजार वर्ष पहले हमने दैवी स्वराज्य बनाया था फिर तुमने 84 जन्म कैसे लिए? यह समझ आगे तुम्हारी बुद्धि में बिल्कुल नहीं थी। इस ब्रह्मा को भी पता नहीं था। राधे-कृष्ण, लक्ष्मी-नारायण की पूजा करते रहते। परन्तु यह भी पता नहीं कि राधे-कृष्ण ही स्वयंवर के बाद लक्ष्मी-नारायण बने हैं इसलिए प्रिन्सेज़ राधे, प्रिन्स कृष्ण कहा जाता है। स्वयंवर के बाद महाराजा-महारानी बनते हैं। यह जो खुद बन रहे हैं, उनको भी पता नहीं था। भल कोई को दीदार भी होता है परन्तु कुछ भी समझते नहीं। फिर भी भक्तों की भावना अल्पकाल के लिए पूरी करने मैं साक्षात्कार कराता हूँ। यहाँ तो ध्यान-दीदार की बात ही नहीं। बाप तो समझाते हैं – साक्षात्कार में माया प्रवेश कर लेगी तो तुम पद भ्रष्ट हो पड़ेंगे। बहुत आकर कहते हैं – हमको शिवबाबा का साक्षात्कार हो। अरे तुमको समझाया जाता है – फायरफ्लाई कितना छोटा होता है, आंखों से देखा जाता है। आत्मा तो उससे भी छोटी बिन्दी है। जैसे आत्मा है वैसे ही परमात्मा का रूप है। साक्षात्कार भी होगा तो उसी छोटी बिन्दी का होगा। यह तो छोटी सी बिन्दी है जो भ्रकुटी के बीच में रहती है। आत्मा का साक्षात्कार हो तो भी समझेंगे कुछ नहीं।

तुम बच्चे जानते हो – अभी हम शिवबाबा की सन्तान हैं। सब ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ शिवबाबा से वर्सा ले रहे हैं। हमारी एम आब्जेक्ट ही यह है। स्टूडेन्ट हैं ना। तुम कहते हो – बाप से सहज राजयोग सीखने आये हैं। यह एम-आब्जेक्ट है। यह बच्चों को भूलना नहीं चाहिए। भक्ति मार्ग में भक्त लोग देवताओं के चित्र साथ में रखते हैं। फिर तुमको यह त्रिमूर्ति का चित्र पॉकेट में रखना चाहिए। इस शिवबाबा द्वारा हम यह लक्ष्मी-नारायण बन रहे हैं। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) शिवबाबा को विकारों का दान देकर फिर कभी वापस नहीं लेना है। देह-अभिमान के भूत से बचना है। इस भूत से सब भूत आ जाते हैं इसलिए आत्म-अभिमानी बनने का अभ्यास करना है।

2) ध्यान दीदार की आश नहीं रखनी है। एम-आब्जेक्ट को सामने रख पुरूषार्थ करना है। श्रीमत पर सबको सुख देना है।

वरदान:- स्वयं की स्मृति में रह अपने हर कर्म को संयम (नियम) बनाने वाले अथॉरिटी स्वरूप भव
जैसे साकार में स्वयं की स्मृति में रहने से जो कर्म किया वही ब्राह्मण परिवार का संयम बन गया। स्वयं के नशे में रहने के कारण अथॉरिटी से कह सकते थे कि अगर साकार द्वारा कोई उल्टा कर्म भी हो गया तो सुल्टा कर देंगे। स्वयं के स्वरूप की स्मृति में रहने से यह नशा रहता है कि कोई कर्म उल्टा हो ही नहीं सकता। आप बच्चे भी जब स्वयं की स्थिति में स्थित रहो तो जो संकल्प चलेगा, जो बोल बोलेंगे वा कर्म करेंगे, वही संयम (नियम) बन जायेगा।
स्लोगन:- पवित्रता का पिल्लर मजबूत करो तो यह पिल्लर लाइट हाउस का काम करता रहेगा।

TODAY MURLI 5 MAY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 5 May 2020

05/05/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your love is for the one Father because you receive the unlimited inheritance from Him. You say to Him with love, “My Baba!”
Question: Why can no words spoken by human beings be compared to those spoken by the Father?
Answer: Because every word that the Father speaks is an elevated version. Those who hear these elevated versions become great; they become the most elevated humans. The Father’s elevated versions make you into beautiful flowers. Words spoken by human beings are not elevated versions. In fact, it is because of them that you have been coming down.
Song: Even though the world may change, we will remain constant.

Om shanti. The first line of the song is meaningful, but the rest of the song is useless. It’s similar to how the terms in the Gita “God speaks”, “Manmanabhav” and “Madhyajibhav” are correct. That is called a pinch of salt in a sackful of flour. You children know very well who God is. Shiv Baba is called God. Shiv Baba comes and creates Shivalaya. Where does He come? Into the brothel. He Himself comes and says: O My sweetest, beloved, long-lost and now-found spiritual children. It is you souls who listen to Him. You souls know that you are imperishable and that your bodies are perishable. We souls are now listening to these elevated versions spoken by the Supreme Father, the Supreme Soul. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, speaks the elevated versions which make us into elevated human beings. None of the great souls and gurus etc. speak elevated versions. When they say, “Shivohum”, that too is not a true version. You are now listening to elevated versions from the Father and becoming beautiful flowers. There is so much difference between thorns and flowers! You children now know that it is not a human being who is speaking to you. Shiv Baba is present in this one. He too is a soul, but He is called the Supreme Soul. Impure souls now call out: O Supreme Soul, come! Come and purify us. He is the Supreme Father, the One who makes us into supreme beings. You are becoming the most elevated of all human beings, those who are called deities. The term “Supreme Father” is very sweet. When they refer to Him as omnipresent, there is no sweetness. Very few of you have remembrance of the Father inside you with a lot of love. Physical husbands and wives remember one another physically. Here, you souls have to remember the Supreme Soul with a lot of love. On the path of devotion, they cannot worship Him with as much love. There isn’t that love. How can they love Him when they don’t know Him? You children now have a lot of love for Him. You souls say: My Baba. All souls are brothers. Each brother says that Baba has given us His introduction. However, that wouldn’t be called love. You would have love for someone from whom you receive something. Children love their father because they receive an inheritance from him. The greater the inheritance, the greater the love his children would have. If their father doesn’t have any property, but their grandfather does, there wouldn’t be as much love for the father. There would be more love for the grandfather, because they believe that they will receive some money from him. Now, this One is the unlimited Father. You children know that the Father is now teaching you. This is a matter of great happiness: God is my Father. No one knows that Father, the Creator. Because of not knowing Him, they call themselves the Father. If you ask a child who his father is, in the end, he would say, “I am.” You children now know that that One is definitely the Father of all fathers. The unlimited Father whom we have now found has no father of His own. That is the highest-on-high Father. Therefore, you children should have a lot of happiness inside you. When people go on those pilgrimages, there isn’t that much happiness because there is no attainment there. They simply go there to have a vision. They stumble along so much for nothing. They wear out their foreheads and they also use up all their money. They spend a lot of money and yet attain nothing. If there were an income earned on the path of devotion, the people of Bharat would become so wealthy. They spend billions of rupees on building temples etc. You didn’t just have one temple to Somnath; each king had a temple. You were given so much wealth. Five thousand years ago, you were made into the masters of the world. Only the Father says this. Five thousand years before today, I taught you Raja Yoga and made you become like them. Look what you have now become! Let this enter your intellects. We were so elevated! Having taken 84 births, we have now fallen to the floor; we have become as worthless as shells. We are now going to Baba who is making us into the masters of the world. This is the only pilgrimage where souls meet their Father. Therefore, there has to be that love inside you. When you children come here, your intellects should have the awareness that you are going to that Father from whom you are once again to receive the sovereignty of the world. That Father gives us the teachings: Children, imbibe divine virtues! Remember Me, the Father, the Almighty Authority, the Purifier! I come every cycle and tell you: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. Let it enter your hearts that you are going to the unlimited Father. The Father says: I am incognito. The soul says: I am incognito. You understand that you are going to Shiv Baba and Brahma Dada; they are combined. We are going to meet the One who makes us into the masters of the world. Let there be unlimited internal happiness. When you leave your homes to come here to Madhuban, happiness should be bubbling inside you. The Father has come to teach us and He is showing us the way to imbibe divine virtues. When you leave your homes you should have this happiness inside you. When a girl is going to meet her future husband, she puts on jewellery etc. and her face blossoms; her face blossoms for receiving sorrow! Your faces blossom for receiving constant happiness. Therefore, there should be so much happiness in coming to meet such a Father. We have now found the unlimited Father. When we go to the golden age, our degrees will decrease. You Brahmins are now the children of God. God sits here and teaches you. He is our Father and also our Teacher. He is teaching us and purifying us and He will then take us back home with Him. We souls are now being liberated from this dirty kingdom of Ravan. There should be a lot of happiness inside you. Since the Father makes you into the masters of the world, you should study very well. When students study well, they pass with good marks. Children say: Baba, I will become Shri Narayan. This is the true story of becoming the true Narayan. It is the story of changing from an ordinary human into Narayan. You have been listening to those false stories for birth after birth. Only once, at this time, do you listen to the true story from the Father. That then continues on the path of devotion. It is said that Shiv Baba took birth at night and so they celebrate His birthday year after year. However, no one knows when He came or what He did when He came. Achcha, they also celebrate the birth of Krishna. They don’t know when he came, how he came or what he did either. They say that he came in the land of Kans. How could he take birth in an impure land? You children should be so happy that you are going to the unlimited Father. Some relate their experience of how so-and-so shot an arrow at them and told them that Baba has come. Ever since that day, they have continued to remember the Father alone. This pilgrimage is for you to go to the greatest of all Fathers. Baba is living and He comes to meet His children. Those pilgrimages are physical. Here, the Father is living. Just as we souls speak through our bodies, so the Father, the Supreme Soul, also has to speak through a body. This study is for your livelihood of your future 21 births. Other studies are just for this one birth. So, which study should you study and which occupation should you have? The Father says: Do both! You mustn’t leave your home and families and go to live in the forests like the sannyasis do. This path is the family path. This study is for both. Not everyone will study. Some will study very well and some a little less. An arrow will instantly pierce some, whereas others will continue to speak as though they are crazy. Some say: Yes, I will try to understand. Others say: I have to understand these matters by sitting in solitude somewhere. Then they go off and disappear. If an arrow of knowledge strikes someone, he would immediately come to understand everything. Some say that they don’t have time. You can understand from that that an arrow didn’t strike them. Look how Baba instantly left everything when an arrow pierced him! He believed that he was going to receive a sovereignty. Therefore, he thought, “What is all of this compared to that? I want to claim the kingdom from the Father.” The Father says: Now, carry on with your business etc., but come and understand all of this very well for one week. You have to look after your family and sustain your creation. Those people (sannyasis) create their family and then leave home and run away. The Father says: You created your creation. Therefore, look after them very well. If your wife and children listen to you, they are obedient and worthy. If they don’t, they are disobedient and unworthy. You can tell which ones are worthy and which ones are unworthy. The Father says: If you follow shrimat, you become elevated. Otherwise, you cannot receive the inheritance. Become pure, become a worthy child and glorify the Father’s name. Once an arrow has struck them, they will say: That’s it! I will now earn a true income. The Father has come to take you to Shivalaya. You also have to become worthy of going to Shivalaya. There is effort in this. Tell them: Now remember Shiv Baba. Death is standing just ahead. They too have to be benefitted. Tell them: Now remember the Father and your sins will be absolved. It is the duty of you daughters to uplift both your family and your in-laws’ family. Since you have been invited there, it is your duty to benefit them. Become merciful. Show impure and tamopradhan human beings the way to become satopradhan. You know that everything definitely becomes old from new. In hell, all souls are impure. Therefore, they go to bathe in the Ganges in order to be purified. However, first of all, they have to be made to understand that they are impure and that they therefore have to become pure. The Father says to souls: Remember Me and your sins will be absolved. Give all the sages and holy men My message: The Father says: Remember Me! The alloy will continue to be removed from souls with this fire of yoga or pilgrimage of remembrance. You will then be purified and come to Me. I will take all of you back home with Me. A scorpion continues to move along until it comes to something soft. Then, it will sting there. What would it achieve by stinging a stone? You can also give the Father’s introduction. The Father has told you where His devotees are. They are at the temples to Shiva, the temples to Krishna and the temples to Lakshmi and Narayan. Devotees continue to worship Me. They too are My children. They also received the kingdom from Me but have now become worshippers from being worthy of worship. They are devotees of the deities too. The number one worship is the unadulterated worship of Shiva. While gradually falling, they started to worship the elements. It is easy to explain to the worshippers of Shiva: This is Shiv Baba, the Father of all souls. He gives us the inheritance of heaven. The Father says: Now remember Me and your sins will be absolved. I am giving you this message. The Father says: I am the Purifier, the Ocean of Knowledge. I am giving you this knowledge. I also teach you yoga in order to purify you. I give you this message through the body of Brahma: Remember Me! Remember your 84 births! You will find the devotees in the temples and at the kumbha melas. You can explain there whether the Ganges or the Supreme Soul is the Purifier. Therefore, you children should have the happiness of who it is you are going to. He is so ordinary! What splendour should He reveal? What should Shiv Baba do so that He seems like a great person? He cannot wear saffron robes. The Father says: I take an ordinary body. Advise Me what to do! How should I decorate this chariot? When they ride the horse of Hussein, they decorate it so beautifully. Here, they portray Shiv Baba’s chariot as a bull. They also put a round image of Shiva on the forehead of a bull. How could Shiv Baba enter a bull? Why have they shown a bull in the temples? They say that that is the chariot of Shankar. Would Shankar have a chariot in the subtle region? All of that belongs to the path of devotion and is fixed in the drama. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Promise yourself that 1) You will now earn a true income. 2) You will make yourself worthy of going to Shivalaya. 3) You will become a worthy child by following shrimat and glorify the Father’s name.
  2. Become merciful and make tamopradhan human beings satopradhan. Benefit everyone. Remind everyone of the Father before death comes.
Blessing: May you become great in serving with the lesson of “Ha ji” (yes indeed) and become worthy of receiving everyone’s blessings.
While doing service in happiness and with enthusiasm, also pay attention to the way you do service so that you also receive everyone’s blessings because where there are blessings, there will not be hard work. Now, simply have the aim of receiving blessings from those you come into contact with. The lesson of “Ha ji” is the means of receiving blessings. Even if some are wrong, do not push them down further by saying that they are wrong, but give them support and enable them to stand up. Be co-operative and you will receive blessings from their contentment. Those who become great in receiving blessings become great automatically.
Slogan: As well as being a hard worker, also keep the aim of becoming hard (strong) in your stage.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 MAY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 May 2020

Murli Pdf for Print : – 

05-05-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हारा लव एक बाप से है क्योंकि तुम्हें बेहद का वर्सा मिलता है, तुम प्यार से कहते हो – मेरा बाबा”
प्रश्नः- किसी भी देहधारी मनुष्य के बोल की भेंट बाप से नहीं की जा सकती है – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि बाप का एक-एक बोल महावाक्य है। जिन महावाक्यों को सुनने वाले महान अर्थात् पुरूषोत्तम बन जाते हैं। बाप के महावाक्य गुल-गुल अर्थात् फूल बना देते हैं। मनुष्य के बोल महावाक्य नहीं, उनसे तो और ही नीचे गिरते आये हैं।
गीत:- बदल जाए दुनिया………..

ओम् शान्ति। गीत की पहली लाइन में कुछ अर्थ है, बाकी सारा गीत कोई काम का नहीं है। जैसे गीता में भगवानुवाच मनमनाभव, मध्याजी भव यह अक्षर ठीक हैं। इसको कहा जाता है आटे में नमक। अब भगवान किसको कहा जाता है, यह तो बच्चे अच्छी रीति जान गये हैं। भगवान शिवबाबा को कहा जाता है। शिवबाबा आकर शिवालय रचते हैं। आते कहाँ हैं? वेश्यालय में। खुद आकर कहते हैं – हे मीठे-मीठे लाडले, सिकीलधे रूहानी बच्चों, सुनती तो आत्मा है ना। जानते हो हम आत्मा अविनाशी हैं। यह देह विनाशी है। हम आत्मा अब अपने परमपिता परमात्मा से महावाक्य सुन रहे हैं। महावाक्य एक परमपिता परमात्मा के ही हैं जो महान् पुरूष पुरूषोत्तम बनाते हैं। बाकी जो भी महात्मायें गुरू आदि हैं, उनके कोई महावाक्य नहीं हैं। शिवोहम् जो कहते हैं वह भी सही वाक्य हैं नहीं। अभी तुम बाप से महावाक्य सुनकर गुल-गुल बनते हो। कांटे और फूल में कितना फ़र्क है। अभी तुम बच्चे जानते हो हमको कोई मनुष्य नहीं सुनाते हैं। इस पर शिवबाबा विराजमान हैं, वह भी आत्मा ही है, परन्तु उनको कहा जाता है परम आत्मा। अभी पतित आत्मायें कहती हैं – हे परम आत्मा आओ, आकर हमको पावन बनाओ। वह है ही परमपिता, परम बनाने वाला। तुम पुरूषोत्तम अर्थात् सब पुरूषों में उत्तम पुरूष बनते हो। वह हैं देवतायें। परमपिता अक्षर बहुत मीठा है। सर्वव्यापी कह देते हैं तो मीठापन आता नहीं। तुम्हारे में भी बहुत थोड़े हैं जो प्यार से अन्दर याद करते हैं, वह स्त्री पुरूष तो एक-दो को स्थूल में याद करते हैं। यह है आत्माओं को परमात्मा को याद करना, बहुत प्यार से। भक्ति मार्ग में इतना प्यार से पूजा नहीं कर सकते। वह लव नहीं रहता। जानते ही नहीं तो लव कैसे हो। अभी तुम बच्चों का बहुत लव है। आत्मा कहती है – ‘मेरा बाबा’। आत्मायें भाई-भाई हैं ना। हर एक भाई कहते हैं बाबा ने हमको अपना परिचय दिया है। परन्तु वह लव नहीं कहा जाता है। जिससे कुछ मिलता है उसमें लव रहता है। बाप में बच्चों का लव रहता है क्योंकि बाप से वर्सा मिलता है। जितना जास्ती वर्सा, उतना बच्चे का जास्ती लव रहेगा। अगर बाप के पास कुछ भी प्रापर्टी है नहीं, दादे के पास है तो फिर बाप में इतना लव नहीं रहेगा। फिर दादे से लव हो जायेगा। समझेंगे इससे पैसा मिलेगा। अभी तो है बेहद का बाप। तुम बच्चे जानते हो हमको बाप पढ़ाते हैं। यह तो बहुत ही खुशी की बात है। भगवान हमारा बाप है। जिस रचता बाप को कोई भी नहीं जानते हैं। न जानने के कारण फिर अपने को बाप कह देते हैं। जैसे बच्चे से पूछो तुम्हारा बाप कौन? आखरीन कह देते हैं हम। अभी तुम बच्चे जानते हो उन सब बापों का बाप है जरूर, हमको जो अभी बेहद का बाप मिला है, उनका कोई बाप है नहीं। यह है ऊंच ते ऊंच बाप। तो बच्चों के अन्दर में खुशी रहनी चाहिए। उन यात्राओं पर जाते हैं तो वहाँ इतनी खुशी नहीं रहेगी क्योंकि प्राप्ति कुछ है नहीं। सिर्फ दर्शन करने जाते हैं। मुफ्त में कितने धक्के खाते हैं। एक तो यह टिप्पड़ घिसी और दूसरा फिर पैसे की टिप्पड़ घिसती। पैसे बहुत खर्च करते, प्राप्ति कुछ नहीं। भक्ति मार्ग में अगर आमदनी होती तो भारतवासी बहुत साहूकार हो जाते। यह मन्दिर आदि बनाने में करोड़ों रूपया खर्च करते हैं। तुम्हारा सोमनाथ का मन्दिर एक नहीं था। सब राजाओं के पास मन्दिर थे। तुमको कितने पैसे दिये थे – 5 हज़ार वर्ष पहले तुमको विश्व का मालिक बनाया था। एक बाप ही ऐसे कहते हैं। आज से 5 हज़ार वर्ष पहले तुमको राजयोग सिखाकर ऐसा बनाया था। अभी तुम क्या बन गये हो। बुद्धि में आना चाहिए ना। हम कितना ऊंच थे, पुनर्जन्म लेते-लेते एकदम पट आकर पड़े हैं। कौड़ी मिसल बन पड़े हैं। फिर अभी हम बाबा के पास जाते हैं। जो बाबा हमको विश्व का मालिक बनाते हैं। यह एक ही यात्रा है जबकि आत्माओं को बाप मिलते हैं, तो अन्दर में वह लव रहना चाहिए। तुम बच्चे जब यहाँ आते हो तो बुद्धि में रहना चाहिए कि हम उस बाप के पास जाते हैं, जिनसे हमको फिर से विश्व की बादशाही मिलती है। वह बाप हमको शिक्षा देते हैं – बच्चे, दैवी गुण धारण करो। सर्व शक्तिमान् पतित-पावन मुझ बाप को याद करो। मैं कल्प-कल्प आकर कहता हूँ कि मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। दिल में यह आना चाहिए हम बेहद के बाप के पास आये हैं। बाप कहते हैं मैं गुप्त हूँ। आत्मा कहती है मैं गुप्त हूँ। तुम समझते हो हम जाते हैं शिवबाबा के पास, ब्रह्मा दादा के पास। जो कम्बाइन्ड है उनसे हम मिलने जाते हैं, जिससे हम विश्व के मालिक बनते हैं। अन्दर में कितनी बेहद खुशी होनी चाहिए। जब मधुबन में आने के लिए अपने घर से निकलते हो तो अन्दर में गद्गद् होना चाहिए। बाप हमको पढ़ाने के लिए आया है, हमको दैवीगुण धारण करने की युक्ति बताते हैं। घर से निकलते समय ही अन्दर में यह खुशी रहनी चाहिए। जैसे कन्या पति के साथ मिलती है तो जेवर आदि पहनती है तो मुखड़ा ही खिल जाता है। वह मुखड़ा खिलता है दु:ख पाने के लिए। तुम्हारा मुखड़ा खिलता है सदा सुख पाने के लिए। तो ऐसे बाप के पास आने समय कितनी खुशी होनी चाहिए। अभी हमको बेहद का बाप मिला है। सतयुग में जायेंगे फिर डिग्री कम हो जायेगी। अभी तो तुम ब्राह्मण ईश्वरीय सन्तान हो। भगवान बैठ पढ़ाते हैं। वह हमारा बाप भी है, टीचर भी है, पढ़ाते हैं फिर पावन बनाकर साथ में भी ले जायेंगे। हम आत्मा अब इस छी-छी रावण राज्य से छूटते हैं। अन्दर में अथाह खुशी होनी चाहिए – जबकि बाप विश्व का मालिक बनाते हैं तो पढ़ाई कितनी अच्छी रीति पढ़नी चाहिए। स्टूडेन्ट अच्छी रीति पढ़ते हैं तो अच्छे मार्क्स से पास होते हैं। बच्चे कहते हैं – बाबा हम तो श्री नारायण बनेंगे। यह है ही सत्य नारायण की कथा अर्थात् नर से नारायण बनने की कथा। वह झूठी कथायें जन्म-जन्मान्तर सुनते आये हो। अभी बाप से एक ही बार तुम सच्ची-सच्ची कथा सुनते हो। वह फिर भक्ति मार्ग में चला आता है। जैसे शिवबाबा ने जन्म लिया उसकी फिर वर्ष-वर्ष जयन्ती मनाते आये हैं। वह कब आया, क्या किया कुछ भी नहीं जानते। अच्छा, कृष्ण जयन्ती मनाते हैं, वह भी कब आया, कैसे आया, कुछ भी पता नहीं है। कहते हैं कंसपुरी में आता है, अब वह पतित दुनिया में कैसे जन्म लेगा! बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए – हम बेहद बाप के पास जाते हैं। अनुभव भी सुनाते हैं ना – हमको फलाने द्वारा तीर लगा, बाबा आये हैं…..! बस उस दिन से लेकर हम बाप को ही याद करते हैं।

यह है तुम्हारी बड़े ते बड़े बाप के पास आने की यात्रा। बाबा तो चैतन्य है, बच्चों के पास जाते भी हैं। वह हैं जड़ यात्रायें। यहाँ तो बाप चैतन्य है। जैसे हम आत्मा बोलती हैं, वैसे वह परमात्मा बाप भी बोलते हैं शरीर द्वारा। यह पढ़ाई है भविष्य 21 जन्म शरीर निर्वाह के लिए। वह है सिर्फ इस जन्म के लिए। अब कौन-सी पढ़ाई पढ़नी चाहिए वा कौन-सा धन्धा करना चाहिए? बाप कहते हैं दोनों करो। संन्यासियों मिसल घरबार छोड़ जंगल में नहीं जाना है। यह तो प्रवृत्ति मार्ग है ना। दोनों के लिए पढ़ाई है। सब तो पढ़ेंगे भी नहीं। कोई अच्छा पढ़ेंगे, कोई कम। कोई को एकदम झट तीर लग जायेगा। कोई तो तवाई मिसल बोलते रहेंगे। कोई कहते हैं – हाँ, हम समझने की कोशिश करेंगे। कोई कहेंगे यह तो एकान्त में समझने की बातें हैं। बस, फिर गुम हो जायेंगे। कोई को ज्ञान का तीर लगा तो झट आकर समझेंगे। कोई फिर कहेंगे – हमको फुर्सत नहीं। तो समझो तीर लगा नहीं। देखो, बाबा को तीर लगा तो फट से छोड़ दिया ना। समझा बादशाही मिलती है, उनके आगे यह क्या है! हमको तो बाप से राजाई लेनी है। अभी बाप कहते हैं वह धंधा आदि भी करो सिर्फ एक हफ्ता यह अच्छी रीति समझो। गृहस्थ व्यवहार भी सम्भालना है। रचना की पालना भी करनी है। वह तो रचकर फिर भाग जाते हैं। बाप कहते हैं तुमने रचा है तो फिर अच्छी रीति सम्भालो। समझो स्त्री अथवा बच्चा तुम्हारा कहना मानते हैं तो सपूत हैं। नहीं समझते हैं तो कपूत हैं। सपूत और कपूत का पता पड़ जाता है ना। बाप कहते हैं तुम श्रीमत पर चलेंगे तो श्रेष्ठ बनेंगे। नहीं तो वर्सा मिल न सके। पवित्र बन, सपूत बच्चा बन नाम बाला करो। तीर लग गया फिर तो कहेंगे – बस, अभी तो हम सच्ची कमाई करेंगे। बाप आये हैं शिवालय में ले जाने। तो शिवालय में जाने लिए फिर लायक बनना है। मेहनत है। बोलो, अब शिवबाबा को याद करो, मौत सामने खड़ा है। कल्याण तो उनका भी करना है ना। बोलो, अब याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। तुम बच्चियों का फ़र्ज है पियर घर और ससुरघर का उद्धार करना जबकि तुम्हें बुलावा होता है तो तुम्हारा फ़र्ज है उनका कल्याण करना। रहमदिल बनना चाहिए। पतित तमोप्रधान मनुष्यों को सतोप्रधान बनने का रास्ता बताना है। तुम जानते हो हर चीज़ नई से पुरानी जरूर होती है। नर्क में सब पतित आत्मायें हैं, तब तो गंगा में स्नान कर पावन होने जाते हैं। पहले तो समझें कि हम पतित हैं इसलिए पावन बनना है। बाप आत्माओं को कहते हैं मुझे याद करो तो तुम्हारे पाप नष्ट हो जायेंगे। साधू-सन्त आदि जो भी हैं – सबको यह मेरा पैगाम दो कि बाप कहते हैं मुझे याद करो। इस योग अग्नि से अथवा याद की यात्रा से तुम्हारी खाद निकलती जायेगी। तुम पवित्र बन मेरे पास आ जायेंगे। मैं तुम सबको साथ ले जाऊंगा। जैसे बिच्छु होता है, चलता जाता है, जहाँ नर्म चीज़ देखता है तो डंक मार देता है। पत्थर को डंक मार क्या करेगा! तुम भी बाप का परिचय दो। यह भी बाप ने समझाया है – मेरे भगत कहाँ रहते हैं! शिव के मन्दिर में, कृष्ण के मन्दिर में, लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में। भगत मेरी भक्ति करते रहते हैं। हैं तो बच्चे ना। मेरे से राज्य लिया था, अब पूज्य से पुजारी बन गये हैं। देवताओं के भगत हैं ना। नम्बरवन है शिव की अव्यभिचारी भक्ति। फिर गिरते-गिरते अभी तो भूत पूजा करने लगे हैं। शिव के पुजारियों को समझाने में सहज होगा। यह सब आत्माओं का बाप शिवबाबा है। स्वर्ग का वर्सा देते हैं। अभी बाप कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश हों। हम तुमको पैगाम देते हैं। अब बाप कहते हैं पतित-पावन, ज्ञान का सागर मैं हूँ। ज्ञान भी सुना रहा हूँ। पावन बनने के लिए योग भी सिखा रहा हूँ। ब्रह्मा तन से मैसेज़ दे रहा हूँ मुझे याद करो। अपने 84 जन्मों को याद करो। तुमको भगत मिलेंगे मन्दिरों में और फिर कुम्भ के मेले में। वहाँ तुम समझा सकते हो। पतित-पावन गंगा है या परमात्मा?

तो बच्चों को यह खुशी रहनी चाहिए कि हम किसके पास जाते हैं! है कितना साधारण। क्या बड़ाई दिखाये! शिवबाबा क्या करे जो बड़ा आदमी दिखाई पड़े? संन्यासी कपड़े तो पहन नहीं सकते। बाप कहते हैं मैं तो साधारण तन लेता हूँ। तुम ही राय दो कि मैं क्या करूँ? इस रथ को क्या श्रृंगारूँ? वह हुसेन का घोड़ा निकालते हैं, उनको श्रृंगारते हैं। यहाँ शिवबाबा का रथ फिर बैल बना दिया है। बैल के मस्तक में गोल-गोल शिव का चित्र दिखाते हैं। अब शिवबाबा बैल में कहाँ से आयेगा। भला मन्दिर में बैल क्यों रखा है? शंकर की सवारी कहते हैं। सूक्ष्मवतन में शंकर की सवारी होती है क्या? यह सब है भक्ति मार्ग जो ड्रामा में नूँध है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने आपसे प्रतिज्ञा करनी है कि अभी हम सच्ची कमाई करेंगे। स्वयं को शिवालय में चलने के लायक बनायेंगे। सपूत बच्चा बनकर श्रीमत पर चलकर बाप का नाम बाला करेंगे।

2) रहमदिल बन तमोप्रधान मनुष्यों को सतोप्रधान बनाना है। सबका कल्याण करना है। मौत के पहले सबको बाप की याद दिलानी है।

वरदान:- हाँ जी के पाठ द्वारा सेवाओं में महान बनने वाले सर्व की दुआओं के पात्र भव
कोई भी सेवा खुशी और उमंग से करते हुए सदा ध्यान रहे कि जो सेवा हो उसमें सर्व की दुआयें प्राप्त हों क्योंकि जहाँ दुआयें होंगी वहाँ मेहनत नहीं होगी। अभी यही लक्ष्य हो कि जिसके भी सम्पर्क में आयें उसकी दुआयें लेते जाएं। हाँ जी का पाठ ही दुआयें लेने का साधन है। कोई रांग भी है तो उसे रांग कहकर धक्का देने के बजाए सहारा देकर खड़ा करो। सहयोगी बनो। तो उससे भी सन्तुष्टता की दुआयें मिलेंगी। जो दुआयें लेने में महान बनते हैं वे स्वत: महान बन जाते हैं।
स्लोगन:- हार्ड वर्कर के साथ-साथ अपनी स्थिति भी हार्ड (मजबूत) बनाने का लक्ष्य रखो।

TODAY MURLI 5 MAY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 May 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 4 May 2019 :- Click Here

05/05/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
26/11/84

Those who are truly co-operative are true yogis.

Today, Baba is looking at the love the children have for the meeting. Because they remained under the canopy of one faith and one strength, and had zeal and enthusiasm for meeting, no upheaval was able to shake their love, even slightly. You transformed obstructions and tiredness and experienced an easy path of love and arrived here. This is what it means by “when the children have courage, the Father helps.” Where there is courage, there is also enthusiasm. If there is no courage, there is no enthusiasm. The children who constantly maintain courage and enthusiasm claim number one through their constant stage. No matter how severe a situation may be, with the wings of zeal and enthusiasm and an elevated flying stage, you will experience in a second the biggest and most severe situation to be small and easy, because in front of the flying stage everything is experienced to be like little toys in a game. No matter how frightening some situations appear, you will experience them to be natural not frightening. You experience painful situations to make you determined. No matter how distressing the situations that come to you may be, the drums of happiness will not allow there to be any influence of the scenes of distress. Instead, with peace and power, you will help everyone else by working like cool water on their fire of pain and distress. At such a time, desperate souls need help. It is by receiving this co-operation that they will experience elevated yoga. Everyone will accept this true co-operation of yours to be that of true yogis. At such a time of distress, with the revelation of “Those who are truly co-operative are true yogis” and through their practised attainment, there will be cries of victory. There is the praise of such a time, “Thirsty for one drop…” This drop of the experience of one second’s peace and power will enable desperate souls to experience fulfilment. At such a time, the attainment of one second will give them the experience of having received the attainment and fulfilment of many births in a second. However, only a soul who has been practising having a powerful stage over a long period of time will be able to quench the thirst of thirsty souls in a second. Now check: are you able to be a master bestower of fortune, a master bestower of blessings and a master ocean and give in a second the experience of such a powerful stage in the midst of a fearsome and sorrowful atmosphere of sorrow and pain? If, at such a time, you become engaged in watching or listening to, “What has happened?”, you won’t be able to be co-operative. Even the slightest desire to watch or listen will not allow you to create the powerful stage in which you can fulfil everyone’s desires. Therefore, from now on, constantly practise the powerful stage of being ignorant of the knowledge of any temporary desires. Become those who are constant servers and constantly co-operative and yogi in their every thought and at every breath. Just as a damaged idol has no value and has no right to be worshipped, in the same way, a server or a yogi who is not constantly engaged in that doesn’t have the right to enable souls to claim a right at such a time. Therefore, the time for such powerful service is now coming close. Time is ringing the bells. Just as devotees ring bells to awaken their special beloved deities, and then put them to sleep and offer bhog etc., in the same way, time is ringing the bells and alerting you special deities. You have awakened but you have become busier in the pure household. Time is ringing the bells for you to quench the thirst of thirsty souls and is making preparations for you to practise creating a powerful stage to bring attainment for many births in a second. Time is invoking you complete especially beloved souls to open the curtains of revelation. Do you understand? All of you have heard the bell of time, have you not? Achcha.

To those who easily overcome all adverse situations with the flying stage, to the constant servers, constant yogis, constant master bestowers, embodiments of bestowers of blessings, who in a second enable souls to become fully satisfied with the attainment of a long period of time, to those who constantly fulfil all desires with the stage of being ignorant of the knowledge of desires, to such master almighty authority, powerful souls, BapDada’s love, remembrance and namaste.

(Gangaben related news of Kanpur to BapDada): You are a constantly unshakeable and immovable soul. You experience the Father’s canopy of protection in every situation, do you not? BapDada always keeps the children safe. You have always received a means of safety from the Father. This is why you always have the Father’s hand of love and His company. You have already practised “nothing new“. Whatever happened, it was “nothing new“. Whatever is happening, it is “nothing new”. You automatically continue to receive touchingsRehearsals are taking place. At such a time, what are the means of safety and service? What should your form be? Rehearsals are taking place for this. At the end, there will be the victory amidst the cries of distress. After the extreme, there will be the end and then the beginning of the new age. At such a time, the drums of revelation will beat in everyone’s mind even against their conscious wish. The scenes will be delicate but the drums of revelation will beat. Therefore, you have gone beyond rehearsals. You played your part as a carefree emperor. You did very well. You reached here and this is the form of love. Achcha. In terms of having thoughts, you are free from thoughts. Whatever happened, “wah, wah”. In this too, some will be benefited. This is why there is benefit in being burnt and benefit in being saved. You wouldn’t cry out in distress: Oh! I got burnt! No. There is benefit in that too. Just as you say “Wah, wah!” when you are saved, “Wah, I have been saved!” in this same way, let there be “Wah, wah”, even at the time of being burnt. This is called a constant and stable stage. It is your duty to save others, but something that is going to get burnt is going to get burnt anyway. There are also many karmic accounts in this. You are a carefree emperor anyway. One went and you received one hundred thousand-fold. This is the slogan of Brahmins. Nothing went, but you received. This is why you are carefree. It is probably because you are going to get something better. This is why it is a game to get burnt and it is a game to be saved. Both are games. What people will see is to what extent you are a carefree emperor, that you are getting burnt and yet you are a carefree emperor because you are under the canopy of protection. Those people become worried, “What will happen? How will it happen? Where will we get our food? How will we carry on?”, whereas children don’t have that worry at all. Achcha.

You will now have to make preparations, will you not? Don’t think about your leaving, but think about taking everyone with you. You will grant everyone visions, make everyone satisfied, beat the drums of revelation and then leave. Why should you leave before that? You will return together with the Father. You will go having experienced the wonderful scenes of revelation. Why should you miss out on this? This devotion in the mind, the worship in the mind, the flowers of love – these final scenes are very wonderful. It is a different matter as to who has a part in the advanced party. However, it is very essential to see these scenes. Those who complete something are said to have accomplished the whole task. This is why the Father comes at the end, and so He has done everything, has He not? So, why don’t you also see this wonderful scene with the Father and return with Him? Only some have this part. Therefore, don’t have any thought of going (dying). If you had gone, that too would have been fine. If you are still here, that is also good. If you go alone, you will still have to serve in the advance party. Therefore, don’t think that you have to go. Think that you have to take everyone with you. Achcha. This is also an experience that has been added. Whatever happens adds a degree to your experience. Just as others have a higher degree in their study, to experience this means to increase your degree.

BapDada meeting groups:

Do all of you consider yourselves to be masters of the self? You are now masters of the self at the confluence age, and in the future you will have the kingdom of the world. Only those who are masters of the self become those who have a right to the kingdom of the world. Do you always consider yourself to be one who has a right to self-sovereignty, that those physical organs are your workers and that you make them function with a right over them? Or, do the physical organs become the king sometimes? Are you yourselves the kings or do the physical organs sometimes become the kings? Do the physical organs sometimes deceive you? If you are deceived by anyone, then you have taken sorrow. Deception brings you sorrow. If there is no deception, there is no sorrow. Therefore, you are those who stay in the happiness, intoxication and power of being masters of the self. The intoxication of being a master of the self is the intoxication that takes you into the flying stage. Limited intoxication causes harm but this unlimited intoxication – unique, spiritual intoxication – is one that enables you to attain happiness. So the true kingdom is the kingdom of a king, and the kingdom of the subjects is a kingdom of chaos. From the beginning, it has been a kingdom of kings. In this last birth there is the kingdom of the people. So, you have now become those who have a right to the kingdom. You were beggars for many births and now, from being beggars, you have become those who have a right. BapDada always says: Children, remain happy, remain fruitful and prosperous. The more you consider yourself to be an elevated soul, and perform elevated actions, speak elevated words and have elevated thoughts, then, with these elevated thoughts, the more you will claim a right to the elevated world. This self-sovereignty is your birthright. It is this that will enable you to claim a right for birth after birth.

Inspirational, invaluable elevated versions from Avyakt BapDada

1. Everyone is waiting for one thing; what is that? The riddle from the beginning has been: Who am I? That will still be there till the end. Till the end, everyone is waiting (to know): Ultimately, who am I? Or, where am I in the rosary? When will this waiting end? All are talking to one another about who will be in the eight, who will be in the 100, for there is no question about who will be in the 16,000. Ultimately, it is: Who will be in the eight or the 100? The foreigners are thinking: Which rosary will we be in? Those who came at the beginning are thinking: Those who have come last are going fast. We don’t know whether we will have a place or whether those who have come last have it. What is the final account? The Father has the book, does He not? Nothing has been fixed yet. When you had the art competition, how did you choose the painting? You first selected a few and then from those you chose the first, second and third numbers. If you were to select from the beginning, they would be fixed, numberwise. So now, they have been chosen, but not yet fixed. What will happen to those who come at the end? There are always some seats kept available till the end. Even when reservations are made, there are some quotas left till the lastmoment, but those are a handful out of multimillions and a selected few from that handful. Achcha.

Which rosary are all of you in? Have hope in yourself. There will be something or other so wonderful on the basis of which all your hopes will be fulfilled. The speciality of the eight jewels lies in one special aspect. Just as there is the practical memorial of the eight jewels, so each of the eight powers will be practicallyvisible in their lives. If even one power is less visible practically in their lives, it is like a damaged arm of an idol and so the idol is not worthy of being worshipped. In the same way, if even one power is visible to a lesser extent, then that one could not be said to be fixed in the list of the special eight deities. Secondly, the eight deities are considered to be the special beloved deities of the devotees. “Especially beloved deities” means those who are greatly worthy of worship. Devotees receive from their special beloved deities total success and the way to achieve it. Here, too, those who are special jewels, in front of the whole Brahmin family they are the specially beloved, that is, they are the ones who show through their every thought and every activity the path to success and the method. Even now, they would be considered to be such great images in front of everyone. So, they would have the eight powers and would be specially beloved in front of the family, that is, they would be in the form of elevated souls, great souls and blessed souls. This is the speciality of the eight jewels. Achcha.

2. The method to remain safe from the vibrations of the world and safe from Maya: Those who always maintain deep love for belonging to the one Father and none other remain safe from every type of attack of Maya. Just as during a war, everyone goes underground when bombs are dropped and so are not affected by them, in the same way, when you are lost in the love of One, you remain safe from the vibrations of the world and from Maya. Maya would not have the courage to attack you. So, remain lost in love. This is your means of safety.

3. The sign of jewels who are close to the Father: Those who remain close to the Father would be coloured with the colour of the Father’s company of truth. The colour of the company of truth is spirituality. So, the close jewels would always be stable in a spiritual stage. While being in bodies, they would be detached and stable in their spirituality. While seeing bodies, they would not see them and the soul that is not visible would be seen in a practical form; this is the wonder. Only those who stay in their spiritual intoxication can make the Father their Companion because the Father is the Spirit.

4. The easy way to stay beyond all the attractions of the old world: Always maintain the intoxication that you are the masters of the imperishable treasures. Whatever the Father’s treasures are – knowledge, happiness, peace, bliss – they are all your virtues. A child is automatically a master of his Father’s property. A soul who has all rights would have the intoxication of his rights, and he forgets everything else in that intoxication, does he not? He has no awareness of anything else. Let there only be one awareness – the Father and I. With this awareness, you will automatically go beyond the attractions of the old world. The goal would always be very clear in front of those who maintain their intoxication. The goal is to become an angel and a deity.

5. The wonderful game of one second with which you can pass with honoursThe game of one second is to come into the body in a minute and to stabilise yourself in the avyakt stage in the next minute. Do you have the practice of this game of a second? To be able to stabilise yourself in the stage that you want when you want. The final paper will be of only one second. Those who are caused upheaval in a second would fail and those who remain unshakeable would pass. Do you have such controlling power? Now, you have to practise this at a fast speed. To the extent that there is upheaval, accordingly, your stage would be extremely peaceful. Just as an ocean is externally full of sound and absolutely peaceful internally – you need to have such practice. Only those who have controlling power are able to control the world. How can those who are unable to control themselves rule the world? You need the power to pack up. In one second, go from the expansion to the essence. And in a second, go from the essence to the expansion. This is the wonderful game.

6. Continue to swing in the swing of supersensuous joy: Souls become happy from unhappy when they see all of you souls swinging in happiness. Let your eyes, your mouths, your faces all give happiness. Become such bestowers of happiness. Those who become such givers of happiness cannot experience waves of sorrow even in their thoughts.

Blessing: May you be a constantly powerful soul who achieves total success by concentrating the mind and the intellect.
In order to attain total success, increase your power of concentration. This power of concentration will easily free you from obstacles. There will be no need to work hard. One Father and none other: there will be easy experience of this and your stage will easily become constant and stable. There will be the attitude of benevolence and the vision of brotherhood for everyone. However, in order to concentrate, become so powerful that your mind and intellect constantly work according to your orders. Let there not be any upheaval for even a second, even in your dreams.
Slogan: Remain detached like a lotus and you will become worthy of receiving God’s love.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 MAY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 May 2019

To Read Murli 4 May 2019 :- Click Here
05-05-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 26-11-84 मधुबन

सच्चे सहयोगी ही सच्चे योगी

आज बच्चों के मिलन स्नेह को देख रहे हैं। एक बल एक भरोसा, इसी छत्रछाया के नीचे मिलन के उमंग उत्साह से ज़रा भी हलचल, लगन को हिला न सकी। रूकावट, थकावट बदलकर स्नेह का सहज रास्ता अनुभव कर पहुँच गये हैं। इसको कहा जाता है हिम्मते बच्चे मददे बाप। जहाँ हिम्मत है वहाँ उल्हास भी है। हिम्मत नहीं तो उल्हास भी नहीं। ऐसे सदा हिम्मत उल्हास में रहने वाले बच्चे एकरस स्थिति द्वारा नम्बरवन ले लेते हैं। कैसे भी कड़े ते कड़ी परिस्थिति हो लेकिन हिम्मत और उल्हास के पंखों द्वारा सेकण्ड में उड़ती कला की ऊंची स्थिति से हर बड़ी और कड़ी परिस्थिति छोटी और सहज अनुभव होगी क्योंकि उड़ती कला के आगे सब छोटे-छोटे खेल के खिलौने अनुभव होंगे। कितनी भी भयानक बातें भयानक के बजाए स्वभाविक अनुभव होंगी। दर्दनाक बातें दृढ़ता दिलाने वाली अनुभव होंगी। कितने भी दु:खमय नज़ारे आयें लेकिन खुशी के नगाड़े, दु:ख के नज़ारों का प्रभाव नहीं डालेंगे और ही शान्ति और शक्ति से औरों के दु:ख दर्द की अग्नि को शीतल जल के सदृश्य सर्व के प्रति सहयोगी बनेंगे। ऐसे समय पर तड़पती हुई आत्माओं को सहयोग की आवश्यकता होती है। इसी सहयोग द्वारा ही श्रेष्ठ योग का अनुभव करेंगे। सभी आपके इस सच्चे सहयोग को ही सच्चे योगी मानेंगे। और ऐसे ही हाहाकार के समय “सच्चे सहयोगी सो सच्चे योगी”, इस प्रत्यक्षता से प्रत्यक्षफल की प्राप्ति से ही जय-जयकार होगी। ऐसे समय का ही गायन है-एक बूँद के प्यासे…यह शान्ति की शक्ति की, एक सेकण्ड की अनुभूति रूपी बूँद तड़पती हुई आत्माओं को तृप्ती का अनुभव करायेगी। ऐसे समय पर एक सेकण्ड की प्राप्ति उन्हें ऐसे अनुभव करायेगी – सेकण्ड में अनेक जन्मों की तृप्ती वा प्राप्ति हो गई। लेकिन वह एक सेकण्ड की शक्तिशाली स्थिति की बहुतकाल से अभ्यासी आत्मा, प्यासे की प्यास बुझा सकती है। अब चेक करो ऐसे दु:ख दर्द, दर्दनाक भयानक वायुमण्डल के बीच सेकण्ड में मास्टर विधाता, मास्टर वरदाता, मास्टर सागर बन ऐसी शक्तिशाली स्थिति का अनुभव करा सकते हो? ऐसे समय पर यह क्या हो रहा है, यह देखने वा सुनने में लग गये तो भी सहयोगी नहीं बन सकेंगे। यह देखने और सुनने की ज़रा भी नाम मात्र इच्छा भी सर्व की इच्छायें पूर्ण करने की शक्तिशाली स्थिति बनाने नहीं देगी इसलिए सदा अपने अल्पकाल की इच्छा मात्रम् अविद्या की शक्तिशाली स्थिति में अब से अभ्यासी बनो। हर संकल्प, हर श्वास के अखण्ड सेवाधारी, अखण्ड सहयोगी सो योगी बनो। जैसे खण्डित मूर्ति का कोई मूल्य नहीं, पूज्यनीय बनने की अधिकारी नहीं। ऐसे खण्डित सेवाधारी खण्डित योगी ऐसे समय पर अधिकार प्राप्त कराने के अधिकारी नहीं बन सकेंगे इसलिए ऐसे शक्तिशाली सेवा का समय समीप आ रहा है। समय घण्टी बजा रहा है। जैसे भगत लोग अपने ईष्ट देव वा देवियों को घण्टी बजाकर उठाते हैं, सुलाते हैं, भोग लगाते हैं। तो अभी समय घण्टी बजाए ईष्ट देव, देवियों को अलर्ट कर रहा है। जगे हुए तो हैं ही लेकिन पवित्र प्रवृत्ति में ज्यादा बिजी हो गये हैं। प्यासी आत्माओं की प्यास मिटाने की, सेकण्ड में अनेक जन्मों की प्राप्ति वाली शक्तिशाली स्थिति के अभ्यास के लिए तैयारी करने की समय घण्टी बजा रहा है। प्रत्यक्षता के पर्दे खुलने का समय आप सम्पन्न ईष्ट आत्माओं का आठान कर रहा है। समझा। समय की घण्टी तो आप सबने सुनी ना। अच्छा!

ऐसे हर परिस्थिति को उड़ती कला द्वारा सहज पार करने वाले, बहुत काल की सेकण्ड में प्राप्ति द्वारा तृप्ती कराने वाले अखण्ड सेवाधारी, अखण्ड योगी, सदा मास्टर दाता, वरदाता स्वरूप, सदा इच्छा मात्रम् अविद्या की स्थिति से सर्व की इच्छायें पूर्ण करने वाले, ऐसे मास्टर सर्वशक्तिवान समर्थ बच्चों को बापदादा का याद प्यार और नमस्ते।

(कानपुर का समाचार गंगे बहन ने बापदादा को सुनाया) सदा अचल अडोल आत्मा। हर परिस्थिति में बाप की छत्रछाया के अनुभवी हैं ना? बापदादा बच्चों को सदा सेफ रखते हैं। सेफ्टी का साधन सदा ही बाप द्वारा मिला हुआ है इसलिए सदा ही बाप का स्नेह का हाथ और साथ है। “नथिंग न्यु” इसके अभ्यासी हो गये हैं ना! जो बीता नथिंग-न्यु। जो हो रहा है नथिंग न्यु। स्वत: ही टचिंग होती रहती है। यह रिहर्सल हो रही है। ऐसे समय पर सेफ्टी का, सेवा का क्या साधन हो? क्या स्वरूप हो? इसकी रिहर्सल होती है। फाइनल में हाहाकार के बीच जय-जयकार होनी है। अति के बाद अन्त और नये युग का आरम्भ हो जायेगा। ऐसे समय पर न चाहते भी सबके मन से यह प्रत्यक्षता के नगाड़े बजेंगे। नज़ारा नाजुक होगा लेकिन बजेंगे प्रत्यक्षता के नगाड़े। तो रिहर्सल से पार हो गई। बेफिकर बादशाह बन पार्ट बजाया। बहुत अच्छा किया। पहुँच गई, यही स्नेह का स्वरूप है। अच्छा-सोच से तो असोच है ही। जो हुआ वाह वाह! इसमें भी कईयों का कुछ कल्याण ही होगा इसलिए जलने में भी कल्याण, तो बचने में भी कल्याण। हाय नहीं कहेंगे, हाय जल गया, नहीं। इसमें भी कल्याण। बचने के टाइम जैसे वाह वाह करते हैं, वाह बच गया ऐसे ही जलने के समय भी वाह वाह! इसी को ही एकरस स्थिति कहा जाता है। बचाना अपना फर्ज है लेकिन जलने वाली चीज़ जलनी ही है। इसमें भी कई हिसाब-किताब होंगे। आप तो हैं ही बेफिकर बादशाह। एक गया लाख पाया, यह है ब्राह्मणों का स्लोगन। गया नहीं लेकिन पाया इसलिए बेफिकर। और अच्छा कोई मिलना होता है इसलिए जलना भी खेल, बचना भी खेल। दोनों ही खेल हैं। यही तो देखेंगे कि यह कितने बेफिकर बादशाह हैं, जल रहा है लेकिन यह बादशाह हैं क्योंकि छत्रछाया के अन्दर हैं। वह फिकर में पड़ जाते हैं क्या होगा, कैसे होगा। कहाँ से खायेंगे, कहाँ से चलेंगे और बच्चों को यह फिकर है ही नहीं। अच्छा-

अभी तैयारी तो करनी पड़े ना! जायेंगे, यह नहीं सोचे लेकिन सबको ले जायेंगे, यह सोचो। सबको साक्षात्कार कराके, तृप्त करके प्रत्यक्षता का नगाड़ा बजाके फिर जायेंगे। पहले क्यों जायें! आप तो बाप के साथ-साथ जायेंगे। प्रत्यक्षता की भी वन्डरफुल सीन अनुभव करके जायेंगे ना! यह भी क्यों रह जाए। यह मानसिक भक्ति, मानसिक पूजा, प्रेम के पुष्प.. यह अन्तिम दृश्य बहुत वन्डरफुल है। एडवान्स पार्टी में किसका पार्ट है, वह दूसरी बात है। बाकी यह सीन देखना तो बहुत आवश्यक है। जिसने अन्त किया उसने सब कुछ किया इसलिए बाप अन्त में आता तो सब कुछ कर लिया ना। तो क्यों नहीं बाप के साथ-साथ यह वन्डरफुल सीन देखते हुए साथ चलो। यह भी कोई-कोई का पार्ट है। तो जाने का संकल्प नहीं करो। चले गये तो भी अच्छा। रह गये तो बहुत अच्छा। अकेले जायेंगे तो भी एडवांस पार्टी में सेवा करनी पड़ेगी इसलिए जाना है यह नहीं सोचो, सबको साथ ले जाना है, यह सोचो। अच्छा-यह भी एक अनुभव बढ़ा। जो होता है उससे अनुभव की डिग्री बढ़ जाती है। जैसे औरों की पढ़ाई में डिग्री बढ़ती है, यह भी अनुभव किया माना डिग्री बढ़ी।

पार्टियों से मुलाकात:

सभी अपने को स्वराज्य अधिकारी समझते हो? स्वराज्य अब संगमयुग पर, विश्व का राज्य भविष्य की बात है। स्वराज्य अधिकारी ही विश्व राज्य अधिकारी बनते हैं। सदा अपने को स्वराज्य अधिकारी समझ इन कर्मेंन्द्रियों को कर्मचारी समझ अपने अधिकार से चलाते हो या कभी कोई कर्मेन्द्रिय राजा बन जाती है। आप स्वयं राजा हैं या कभी कोई कर्मेन्द्रिय राजा बन जाती? कभी कोई कर्मेन्द्रिय धोखा तो नहीं देती है? अगर किसी से भी धोखा खाया तो दु:ख लिया। धोखा दु:ख प्राप्त कराता। धोखा नहीं तो दु:ख नहीं। तो स्वराज्य की खुशी में, नशे में, शक्ति में रहने वाले। स्वराज्य का नशा उड़ती कला में ले जाने वाला नशा है। हद के नशे नुकसान प्राप्त कराते, यह बेहद का नशा अलौकिक रूहानी नशा सुख की प्राप्ति कराने वाला है। तो यथार्थ राज्य है राजा का, प्रजा का राज्य हंगामें का राज्य है। आदि से राजाओं का राज्य रहा है। अभी लास्ट जन्म में प्रजा का राज्य चला है। तो आप अभी राज्य अधिकारी बन गये। अनेक जन्म भिखारी रहे और अब भिखारी से अधिकारी बन गये। बापदादा सदा कहते – बच्चे खुश रहो, आबाद रहो। जितना अपने को श्रेष्ठ आत्मा समझ, श्रेष्ठ कर्म, श्रेष्ठ बोल, श्रेष्ठ संकल्प करेंगे तो इस श्रेष्ठ संकल्प से श्रेष्ठ दुनिया के अधिकारी बन जायेंगे। यह स्वराज्य आपका जन्म-सिद्ध अधिकार है, यही आपको जन्म-जन्म के लिए अधिकारी बनाने वाला है। अच्छा।

अव्यक्त बापदादा के प्रेरणादायक अनमोल महावाक्य

1. सबको एक बात का इन्तजार है, वह कौन सी बात है? जो शुरू की पहेली है मैं कौन? वही लास्ट तक भी है। सबको इंतजार है आखिर भी भविष्य में मैं कौन या माला में कहाँ? अब यह इन्तजार कब पूरा होगा? सब एक दो में रूहरिहान भी करते हैं 8 में कौन होंगे, 100 में कौन होंगे, 16000 का तो कोई सवाल ही नहीं। आखिर भी 8 में या 100 में कौन होंगे? विदेशी सोचते हैं हम कौन-सी माला में होंगे और शुरू में आने वाले फिर सोचते हैं लास्ट सो फास्ट हैं। ना मालूम हमारा स्थान है या लास्ट वालों का है? आखिर हिसाब क्या है? किताब तो बाप के पास है ना। फिक्स नहीं किये गये हैं। आप लोगों ने भी आर्ट काम्पीटीशन की तो चित्र कैसे चुना? पहले थोड़े अलग किये फिर उसमें से एक, दो, तीन नम्बर लगाया। पहले चुनने होते हैं फिर नम्बरवार फिक्स होते हैं। तो अब चुने गये हैं लेकिन फिक्स नहीं हुए हैं। पीछे आने वालों का क्या होगा? सदैव कुछ सीटस अन्त तक भी होती हैं। रिजर्वेशन होती है तो भी लास्ट तक कुछ कोटा रखते हैं लेकिन वह कोटों में कोई, कोई में भी कोई होता है।

अच्छा आप सब किस माला में हो? अपने में उम्मीद रखो। कोई न कोई ऐसी वन्डरफुल बात होगी जिनके आधार पर आप सबकी उम्मीदें पूरी हो जायेंगी। अष्ट रत्नों की विशेषता एक विशेष बात से हैं। अष्ट रत्न प्रैक्टिकल में जैसे यादगार है विशेष तो जो अष्ट शक्तियाँ हैं वह हर शक्ति उनके जीवन में प्रैक्टिकल दिखाई देगी। अगर एक शक्ति भी प्रैक्टिकल जीवन में कम दिखाई देती है तो जैसे अगर मूर्ति की एक भुजा खण्डित हो तो पूज्यनीय नहीं होती, उसी प्रकार से अगर एक शक्ति की भी कमी दिखाई देती तो अष्ट देवताओं की लिस्ट में अब तक फिक्स नहीं कहें जायेंगे। दूसरी बात – अष्ट देवतायें भक्तों के लिए विशेष इष्ट माने जाते हैं। इष्ट अर्थात् महान पूज्य। इष्ट द्वारा हर भक्त को हर प्रकार की विधि और सिद्धि प्राप्त होती है। यहाँ भी जो अष्ट रत्न होंगे वह सर्व ब्राह्मण परिवार के आगे अब भी इष्ट अर्थात् हर संकल्प और चलन द्वारा विधि और सिद्धि का मार्ग दर्शन करने वाले सबके सामने अब भी ऐसे ही महानमूर्त माने जायेंगे। तो अष्ट शक्तियाँ भी होंगी और परिवार के सामने इष्ट अर्थात् श्रेष्ठ आत्मा, महान आत्मा, वरदानी आत्मा के रूप में होंगे। यह है अष्ट रत्नों की विशेषता। अच्छा।

2. दुनिया के वायब्रेशन से अथवा माया से सेफ रहने का साधन- सदा “एक बाप दूसरा न कोई”, जो इसी लगन में मगन रहते वह माया के हर प्रकार के वार से बचे रहते हैं। जैसे जब लड़ाई के समय बाम्ब्स गिराते हैं तो अण्डरग्राउण्ड हो जाते हैं, तो उसका असर उनको नहीं होता तो ऐसे ही जब एक लगन में मगन रहते तो दुनिया के वायब्रेशन से, माया से बचे रहेंगे, सदा सेफ रहेंगे। माया की हिम्मत नहीं जो वार करे। लगन में मगन रहो। यही है सेफ्टी का साधन।

3. बाप के समीप रत्नों की निशानी – बाप के समीप रहने वालों के ऊपर बाप के सत के संग का रंग चढ़ा हुआ होगा। सत के संग का रंग है रूहानियत। तो समीप रत्न सदा रूहानी स्थिति में स्थित होंगे। शरीर में रहते हुए न्यारे, रूहानियत में स्थित रहेंगे। शरीर को देखते हुए भी न देखें और आत्मा जो न दिखाई देने वाली चीज़ है – वह प्रत्यक्ष दिखाई दे – यही तो कमाल है। रूहानी मस्ती में रहने वाले ही बाप को साथी बना सकते हैं क्योंकि बाप रूह है।

4. पुरानी दुनिया के सर्व आकर्षणों से परे होने की सहज युक्ति – सदैव नशे में रहो कि हम अविनाशी खजाने के मालिक हैं। जो बाप का खज़ाना ज्ञान, सुख शान्ति, आनंद है… वह सर्व गुण हमारे हैं। बच्चा बाप की प्रापर्टी का स्वत: ही मालिक होता है। अधिकारी आत्मा को अपने अधिकार का नशा रहता है, नशे में सब भूल जाता है ना। कोई स्मृति नहीं होती, एक ही स्मृति रहे बाप और मैं इसी स्मृति से पुरानी दुनिया की आकर्षण से आटोमेटिकली परे हो जायेंगे। नशे में रहने वाले के सामने सदा निशाना भी स्पष्ट होगा। निशाना है फरिश्तेपन का और देवतापन का।

5. एक सेकण्ड का वन्डरफुल खेल, जिससे पास विद् ऑनर बन जायें – एक सेकेण्ड का खेल है अभी-अभी शरीर में आना और अभी-अभी शरीर से अव्यक्त स्थिति में स्थित हो जाना। इस सेकेण्ड के खेल का अभ्यास है? जब चाहो जैसे चाहो उसी स्थिति में स्थित रह सको। अन्तिम पेपर सेकेण्ड का ही होगा, जो इस सेकण्ड की हलचल में आया तो फेल, अचल रहा तो पास। ऐसी कन्ट्रोलिंग पावर है? अभी ऐसा अभ्यास तीव्र रूप का होना चाहिए। जितना हंगामा हो उतना स्वयं की स्थिति अति शान्त। जैसे सागर बाहर आवाज सम्पन्न होता, अन्दर बिल्कुल शान्त, ऐसा अभ्यास चाहिए। कन्ट्रोलिंग पावर वाले ही विश्व को कन्ट्रोल कर सकते हैं। जो स्वयं को नहीं कर सकते वह विश्व का राज्य कैसे करेंगे। समेटने की शक्ति चाहिए। एक सेकण्ड में विस्तार से सार में चले जायें और एक सेकेण्ड में सार से विस्तार में आ जायें, यही है वन्डरफुल खेल।

6. अतीन्द्रिय सुख के झूले में झूलते रहो – आपको सभी आत्मायें सुख में झूलता देख दु:खी से सुखी बन जायें। आपके नयन, मुख चेहरा सब सुख दे, ऐसा सुखदायी बनो। ऐसा सुखदाई जो बनता उसे संकल्प में भी दु:ख की लहर नहीं आ सकती। अच्छा।

वरदान:- मन-बुद्धि की एकाग्रता द्वारा सर्व सिद्धियां प्राप्त करने वाले सदा समर्थ आत्मा भव 
सर्व सिद्धियों को प्राप्त करने के लिए एकाग्रता की शक्ति को बढ़ाओ। यह एकाग्रता की शक्ति सहज निर्विघ्न बना देती है, मेहनत करने की आवश्यकता नहीं रहती। एक बाप दूसरा न कोई – इसका सहज अनुभव होता है, सहज एकरस स्थिति बन जाती है। सर्व के प्रति कल्याण की वृत्ति, भाई-भाई की दृष्टि रहती है। लेकिन एकाग्र होने के लिए इतना समर्थ बनो जो मन-बुद्धि सदा आपके आर्डर अनुसार चले। स्वप्न में भी सेकण्ड मात्र भी हलचल न हो।
स्लोगन:- कमल पुष्प के समान न्यारे रहो तो प्रभू के प्यार का पात्र बन जायेंगे।

 

Font Resize