5 February ki murli

TODAY MURLI 5 FEBRUARY 2021 DAILY MURLI (English)

05/02/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, everything of yours here is incognito, and this is why you mustn’t have any external show. Maintain the intoxication of your new kingdom.
Question: What effort do you children make to establish your elevated religion and divine actions (dharma and karma)?
Answer: You are now making effort to renounce the five vices because these vices have corrupted everyone. You know that, at this time, all have become corrupt and have moved away from their divine religion and actions. The Father gives you shrimat and establishes your elevated religion and elevated, divine actions. You conquer the vices by following shrimat and having remembrance of the Father. You give yourself the tilak of sovereignty through this study.
Song: Having found You, we have found the whole world. The earth and the sky all belong to us.

Om shanti. You sweetest, spiritual children heard this song. Only the spiritual children say: Baba. You children know that He is the unlimited Father, the One who gives you unlimited happiness, that is, He is the Father of all. All the unlimited children, souls, continue to remember Him; they remember Him in one way or another. However, they don’t know that they can receive the sovereignty of the world from that Supreme Father, the Supreme Soul. You know that the sovereignty of the golden-aged world that the Father gives you is constant, unshakeable and immovable. That sovereignty of ours lasts for 21 births. There is our kingdom over the whole world and no one can snatch it away from us. No one can loot it. Our kingdom is unshakeable because there is only one religion there; there is no duality there. That is the undivided kingdom. When you children hear this song, you should feel intoxicated about your kingdom. You should have such songs in your home. Everything of yours is incognito, whereas important people have a lot of external show. You don’t have any external show. You can see that the one whom Baba enters is also very ordinary. You children understand that all human beings here perform unrighteous and dirty actions and that this is why they are said to be senseless; their intellects are completely locked. You were so sensible, you were the masters of the world. Maya has now made everyone so senseless that they are no longer of any use. People do a lot of penance and hold sacrificial fires etc. to find God, but they don’t attain anything. They simply continue to stumble along in that way. Day by day, they become increasingly unfortunate. The more tamopradhan human beings become, the more misfortune there is. Rishis and munis who are remembered used to remain pure. They would say, “Neti neti” (neither this nor that). Now that they have become tamopradhan, they say, “I am Shiva, and the same applies to you” (Shivohum! Tatwam!). Or, that He is omnipresent and in everyone. Those people simply say, “Supreme Soul”. They never say “Supreme Father”. To call the Supreme Father omnipresent is wrong. This is why they say “Ishwar” or “Supreme Soul”. The word “Father” never enters their intellects. Even when some people do say it, that is just for the sake of it. If they truly believed Him to be the Supreme Father, their intellects would be sparkling. The Father gives you the inheritance of heaven. He is Heavenly God, the Father. So, why are we still in hell? How can we now attain liberation and liberation-in-life? This doesn’t enter anyone’s intellect. Souls have become impure. At first, souls are satopradhan and sensible. Then souls go through the stages of sato, rajo and tamo and become senseless. You have now become sensible. Baba has now reminded you that when there is the new world of Bharat, it is your kingdom. There is just one direction, one language, one religion and the kingdom of one emperor and empress. Then, in the copper age, the path of sin begins and everything then depends on each one’s karma. You shed a body and take another according to your karma. The Father says: I am now teaching you such actions that you attain sovereignty for 21 births. Although you have limited fathers there, you don’t have the knowledge there that you have received that inheritance of the kingdom from the unlimited Father. Then, in the copper age, the kingdom of Ravan begins and relationships become vicious. The birth you receive is according to your karma. In Bharat, there are worthy-of-worship kings and also kings who perform worship. In the golden and silver ages, all are worthy of worship; there is no worshipping or devotion there. When the path of devotion begins in the copper age, the king, queen and all the subjects become worshippers and devotees. The greatest of all kings who belongs to the sun dynasty and is worthy of worship then becomes a worshipper. The reward for your becoming viceless now lasts for 21 births. Then the path of devotion begins. They build temples to the deities and worship them. This only happens in Bharat. The story of 84 births that the Father tells is also only for the people of Bharat. Those of other religions come later. Then, as the population grows, there are many of them. The features of the variety of religions are different in every respect. Their customs and systems are different too. All the paraphernalia is also needed for the path of devotion, just as a seed is tiny and the tree that emerges from it is huge. Just as the leaves, etc. of a tree cannot be counted, in the same way, there is so much expansion in devotion. They continue to produce so many scriptures. The Father now says to the children: All the paraphernalia of the path of devotion has to end. Now remember Me, the Father! There is a lot of influence of devotion. It is so beautiful and there is so much dancing, external show, singing and expense, etc. The Father says: Now remember Me and your inheritance. Remember your original, eternal deity religion. You have been performing many different types of devotion for birth after birth. Sannyasis consider the home of souls, the element of light, to be God. They remember the brahm element. In fact, when sannyasis are satopradhan, they go and live in the jungles in peace. It isn’t that they are going to merge into the brahm element. They believe that by shedding their bodies in remembrance of the brahm element they will merge into that element. The Father says: No one can merge into the brahm element; souls are imperishable. How can a soul merge into anything? They beat their heads so much on the path of devotion, but then some say that God will definitely come in one form or another. Now, who is right? They say that they will have yoga with the brahm element and merge into it. Those on the path of the household religion say that God will definitely come in one form or another to purify the impure. However, it isn’t that He will teach from up above through inspiration. Would a teacher sit at home and inspire everyone? There is no such thing as “inspiration”. Nothing happens through inspiration. Although it is said that destruction takes place through the inspiration of Shankar, it is in fact fixed in the drama. They have to manufacture those missiles, etc. That is just a praise for the sake of it. None of them knows the praise of their ancestors. They even call the founders of religions their gurus. However, they simply establish their religions. A guru is one who grants salvation. Founders of religions come to establish their religions and then their dynasties (followers) come after them. They don’t grant salvation to anyone. Therefore, why should they be called gurus? There is only the one Guru who is also called the Bestower of Salvation for All. Only God, the Father, comes and grants salvation to everyone. He grants liberation and liberation-in-life. No one can stop remembering Him. No matter how much a wife loves her husband, she still calls out, “O God! O Ishwar!”, because only He is the Bestower of Salvation for All. The Father sits here and explains that all of that is creation and that He is the Creator, the Father. Only the one Father gives happiness to everyone. A brother doesn’t give an inheritance to a brother. An inheritance is always received from a father. I give all of you unlimited children your unlimited inheritance. This is why everyone remembers Me, “O Supreme Father, forgive Me! Have mercy for me!” They don’t understand anything. On the path of devotion, they praise Him in so many different ways. He also plays His part according to the drama. The Father says: I don’t come when they call Me. This drama is predestined. The part of My coming is fixed in the drama. I inspire establishment of the one religion and destruction of innumerable religions, that is, establishment of the golden age and destruction of the iron age. I come by Myself at My own time. The part of the path of devotion is also in the drama. It is because the part of the path of devotion has now come to an end that I have now come. Children say: I now understand that I have met You once again after 5000 years. Baba, You entered the body of Brahma in the previous cycle too. You only receive this knowledge at this time. You don’t receive it again. This is knowledge and that is devotion. The stage of ascending is the reward of knowledge. It is said that you can receive liberation-in-life in a second. Janak received liberation-in-life in a second. Was it just one Janak who attained liberation-in-life? Liberation-in-life means a life liberated from this kingdom of Ravan. The Father knows that all the children have now become degraded. They are now to receive salvation. From degradation, they receive a high status of liberation and liberation-in-life. First, you will go into liberation and then into liberation-in-life. From the land of peace, you will go to the land of happiness. The Father has explained the secrets of the whole cycle. The other religions come after you, and the human world population also continues to grow. The Father says: At this time, the human world tree has become tamopradhan and reached the state of total decay. The whole foundation of the original eternal deity tree has decayed. All the other religions still exist. Not a single person in Bharat considers himself to belong to the original, eternal deity religion. They belonged to the deity religion, but at this time they don’t believe that they belonged to the deity religion because deities are pure. They think that they are not themselves pure. How can we impure beings call ourselves deities? The system of calling themselves Hindus is a system created according to the dramaplan. Even in the population census they put us down as belonging to the Hindu religion. Even if they are Gujaratis they will be entered as Hindu Gujaratis. At least ask them where the Hindu religion came from. No one knows. They simply say that their religion was established by Krishna. When? In the copper age. It was in the copper age that they forgot their religion and started to call themselves Hindus. This is why it is said that their divine religion and actions became corrupt. There, everyone performs good actions. Here, everyone performs dirty actions, and that is why it is said: The divine deity religion and actions became corrupt. The elevated religion and elevated divine actions are now being established once again. That is why you are told to continue to renounce these five vices. These vices have existed for half the cycle. You now have to renounce them for one birth. Effort is needed for that. You cannot receive the sovereignty of the world without making some effort. Only when you remember the Father will you give yourself the tilak of sovereignty, that is, only then will you become worthy of a kingdom. The more you stay in remembrance and follow shrimat, so you will accordingly become the kings of kings. The Teacher has come to teach you. This is the school to change from a human being into a deity. He tells you the story about changing from an ordinary human into Narayan. This story is very well known. It is also called the story of immortality, the story of the true Narayan and the story of the third eye. The Father explains the meaning of all three to you. There are many stories on the path of devotion. So, look how good this song is! Baba is making us into the masters of the whole world in such a way that no one can snatch away from us that status of being “the masters”. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always be aware that you are instruments to establish one direction, one kingdom and one religion. Therefore, you have to become united and follow one direction.
  2. In order to give yourself the tilak of sovereignty, make effort to renounce the vices. Pay full attention to the study.
Blessing: May you have a right to supersensuous joy and to keeping yourself safe from Maya’s attack with your trikaldarshi stage.
The special blessing of the confluence age and the speciality of Brahmin life is supersensuous joy. This cannot be experienced in any other age. However, in order to experience this happiness, you have to keep yourself safe from Maya’s attack with your trikaldarshi stage. If you are repeatedly attacked by Maya, you will not be able to experience supersensuous joy, even if you want to. Those who experience supersensuous joy cannot be attracted by the happiness of the senses; because of being knowledge-full, they find that to be very tasteless.
Slogan: When there is a balance between service through karma and through thoughts, you will be able to make the atmosphere powerful.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 FEBRUARY 2021 : AAJ KI MURLI

05-02-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – यहाँ तुम्हारा सब कुछ गुप्त है, इसलिए तुम्हें कोई भी ठाठ नहीं करना है, अपनी नई राजधानी के नशे में रहना है”
प्रश्नः- श्रेष्ठ धर्म और दैवी कर्म की स्थापना के लिए तुम बच्चे कौन सी मेहनत करते हो?
उत्तर:- तुम अभी 5 विकारों को छोड़ने की मेहनत करते हो, क्योंकि इन विकारों ने ही सबको भ्रष्ट बनाया है। तुम जानते हो इस समय सभी दैवी धर्म और कर्म से भ्रष्ट हैं। बाप ही श्रीमत देकर श्रेष्ठ धर्म और श्रेष्ठ दैवी कर्म की स्थापना करते हैं। तुम श्रीमत पर चल बाप की याद से विकारों पर विजय पाते हो। पढ़ाई से अपने आपको राजतिलक देते हो।
गीत:- तुम्हें पाके……..

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने यह गीत सुना। रूहानी बच्चे ही कहते हैं कि बाबा। बच्चे जानते हैं यह बेहद का बाप, बेहद का सुख देने वाला है अर्थात् वह सभी का बाप है। उनको सब बेहद के बच्चे, आत्मायें याद करते रहते हैं। किस न किस प्रकार से याद करते हैं परन्तु उनको यह पता नहीं है कि हमको कोई उस परमपिता परमात्मा से विश्व की बादशाही मिलती है। तुम जानते हो हमको बाप जो सतयुगी विश्व की बादशाही देते हैं, वह अटल अखण्ड, अडोल है, वह हमारी बादशाही 21 जन्म कायम रहती है। सारे विश्व पर हमारी राजाई रहती है जिसको कोई छीन नहीं सकता, लूट नहीं सकता। हमारी राजाई है अडोल क्योंकि वहाँ एक ही धर्म है, द्वेत है नहीं। वह है अद्वैत राज्य। बच्चे जब भी गीत सुनते हैं तो अपनी राजधानी का नशा आना चाहिए। ऐसे-ऐसे गीत घर में रहने चाहिए। तुम्हारा सब कुछ है गुप्त और बड़े-बड़े आदमियों का बहुत ठाठ होता है। तुमको कोई ठाठ नहीं है। तुम देखते हो बाबा ने जिसमें प्रवेश किया है वह भी कितना साधारण रहते हैं। यह भी बच्चे जानते हैं यहाँ हर एक मनुष्य अनराइटियस छी-छी काम ही करते हैं, इसलिए बेसमझ कहा जाता है। बुद्धि को बिल्कुल ही ताला लगा हुआ है। तुम कितने समझदार थे। विश्व के मालिक थे। अभी माया ने इतना बेसमझ बना दिया है जो कोई काम के नहीं रहे हैं। बाप के पास जाने के लिए यज्ञ-तप आदि बहुत करते रहते हैं परन्तु मिलता कुछ भी नहीं है। ऐसे ही धक्के खाते रहते हैं। दिन-प्रतिदिन अकल्याण ही होता जाता है। जितना-जितना मनुष्य तमोप्रधान हो जाते हैं, उतना-उतना अकल्याण होना ही है। ऋषि-मुनि जिनका गायन है वह पवित्र रहते थे। नेती-नेती कहते थे। अभी तमोप्रधान बन गये हैं तो कहते हैं शिवोहम् ततत्वम्, सर्वव्यापी है, तेरे-मेरे में सबमें है। वो लोग सिर्फ परमात्मा कह देते हैं। परमपिता कभी नहीं कहेंगे। परमपिता, उनको फिर सर्वव्यापी कहना यह तो रांग हो जाता है इसलिए फिर ईश्वर वा परमात्मा कह देते। पिता अक्षर बुद्धि में नहीं आता है। करके कोई कहते भी हैं तो भी कहने मात्र। अगर परमपिता समझें तो बुद्धि एकदम चमक उठे। बाप स्वर्ग का वर्सा देते हैं, वह है ही हेविनली गॉड फादर। फिर हम नर्क में क्यों पड़े हैं। अब हम मुक्ति-जीवनमुक्ति कैसे पा सकते हैं। यह किसकी भी बुद्धि में नहीं आता है। आत्मा पतित बन पड़ी है। आत्मा पहले सतोप्रधान, समझदार होती है फिर सतो रजो तमो में आती है, बेसमझ बन पड़ती है। अभी तुमको समझ आई है। बाबा ने हमको यह स्मृति दिलाई है। जब नई दुनिया भारत था तो हमारा राज्य था। एक ही मत, एक ही भाषा, एक ही धर्म, एक ही महाराजा-महारानी का राज्य था, फिर द्वापर में वाम मार्ग शुरू होता है फिर हर एक के कर्मों पर मदार हो जाता है। कर्मों अनुसार एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं। अभी बाप कहते हैं मैं तुमको ऐसे कर्म सिखाता हूँ जो 21 जन्म तुम बादशाही पाते हो। भल वहाँ भी हद का बाप तो मिलता है परन्तु वहाँ यह ज्ञान नहीं रहता कि यह राजाई का वर्सा बेहद के बाप का दिया हुआ है। फिर द्वापर से रावण राज्य शुरू होता है, विकारी संबंध हो जाता है। फिर कर्मों अनुसार जन्म मिलता है। भारत में पूज्य राजायें भी थे तो पुजारी राजायें भी हैं। सतयुग-त्रेता में सब पूज्य होते हैं। वहाँ पूजा वा भक्ति कोई होती नहीं फिर द्वापर में जब भक्ति मार्ग शुरू होता है तो यथा राजा-रानी तथा प्रजा पुजारी, भगत बन जाते हैं। बड़े से बड़ा राजा जो सूर्यवंशी पूज्य था, वही पुजारी बन जाते।

अभी तुम जो वाइसलेस बनते हो, उसकी प्रालब्ध 21 जन्म लिए है। फिर भक्तिमार्ग शुरू होता है। देवताओं के मन्दिर बनाकर पूजा करते रहते हैं। यह सिर्फ भारत में ही होता है। 84 जन्मों की कहानी जो बाप सुनाते हैं, यह भी भारतवासियों के लिए है। और धर्म वाले तो आते ही बाद में हैं। फिर तो वृद्धि होते-होते ढेर के ढेर हो जाते हैं। वैरायटी भिन्न-भिन्न धर्म वालों के फीचर्स, हर एक बात में भिन्न-भिन्न हो जाते हैं। रस्म-रिवाज़ भी भिन्न-भिन्न होती है। भक्ति मार्ग के लिए सामग्री भी चाहिए। जैसे बीज छोटा होता है, झाड़ कितना बड़ा है। झाड़ के पत्ते आदि गिनती नहीं कर सकते। वैसे भक्ति का भी विस्तार हो जाता है। ढेर के ढेर शास्त्र बनाते जाते हैं। अब बाप बच्चों को कहते हैं – यह भक्ति मार्ग की सामग्री सब खत्म हो जाती है। अब मुझ बाप को याद करो। भक्ति का प्रभाव भी बहुत है ना। कितनी खूबसूरत है, नाच, तमाशा, गायन आदि कितना खर्चा करते हैं। अभी बाप कहते हैं मुझ बाप को और वर्से को याद करो। आदि सनातन अपने धर्म को याद करो। अनेक प्रकार की भक्ति जन्म-जन्मान्तर तुम करते आये हो। संन्यासी भी आत्माओं के रहने के स्थान, तत्व को परमात्मा समझ लेते हैं। ब्रह्म वा तत्व को ही याद करते हैं। वास्तव में संन्यासी जब सतोप्रधान हैं तो उन्हों को जंगल में जाकर रहना है शान्ति में। ऐसे नहीं कि उन्हों को ब्रह्म में जाकर लीन होना है। वह समझते हैं ब्रह्म की याद में रहने से, शरीर छोड़ने से ब्रह्म में लीन हो जायेंगे। बाप कहते हैं – लीन कोई हो नहीं सकते। आत्मा तो अविनाशी है ना, वह लीन कैसे हो सकती। भक्ति मार्ग में कितना माथा कूट करते हैं, फिर कहते हैं भगवान कोई न कोई रूप में आयेंगे। अब कौन राइट? वह कहते हम ब्रह्म से योग लगाए ब्रह्म में लीन हो जायेंगे। गृहस्थ धर्म वाले कहते भगवान किसी न किसी रूप में पतितों को पावन बनाने आयेंगे। ऐसे नहीं कि ऊपर से प्रेरणा द्वारा ही सिखलायेंगे। टीचर घर बैठे प्रेरणा करेंगे क्या! प्रेरणा अक्षर है नहीं। प्रेरणा से कोई काम नहीं होता। भल शंकर की प्रेरणा द्वारा विनाश कहा जाता है परन्तु है यह ड्रामा की नूँध। उन्हों को यह मूसल आदि तो बनाने ही हैं। यह सिर्फ महिमा गाई जाती है। कोई भी अपने बड़ों की महिमा नहीं जानते। धर्म स्थापक को भी गुरू कह देते हैं लेकिन वे तो सिर्फ धर्म स्थापन करते हैं। गुरू उनको कहा जाता जो सद्गति करें। वह तो धर्म स्थापन करने आते हैं, उनके पिछाड़ी उनकी वंशावली आती रहती है। सद्गति तो किसकी करते ही नहीं। तो उनको गुरू कैसे कहेंगे। गुरू तो एक ही है जिसको सर्व का सद्गति दाता कहा जाता है। भगवान बाप ही आकर सबकी सद्गति करते हैं। मुक्ति-जीवनमुक्ति देते हैं। उनकी याद कभी किससे छूट नहीं सकती। भल पति से कितना भी प्यार हो फिर भी हे भगवान, हे ईश्वर जरूर कहेंगे क्योंकि वही सर्व का सद्गति दाता है। बाप बैठ समझाते हैं, यह सारी रचना है। रचयिता बाप मैं हूँ। सबको सुख देने वाला एक ही बाप ठहरा। भाई, भाई को वर्सा नहीं दे सकते। वर्सा हमेशा बाप से मिलता है। तुम सभी बेहद के बच्चों को बेहद का वर्सा देता हूँ इसलिए ही मुझे याद करते हैं – हे परमपिता, क्षमा करो, रहम करो। समझते कुछ भी नहीं। भक्ति मार्ग में अनेक प्रकार की महिमा करते हैं, यह भी ड्रामा अनुसार अपना पार्ट बजाते रहते हैं। बाप कहते हैं मैं कोई इन्हों के पुकारने पर नहीं आता हूँ। यह तो ड्रामा बना हुआ है। ड्रामा में मेरे आने का पार्ट नूँधा हुआ है। अनेक धर्म विनाश, एक धर्म की स्थापना वा कलियुग का विनाश, सतयुग की स्थापना करनी होती है। मैं अपने समय पर आपेही आता हूँ। इस भक्ति मार्ग का भी ड्रामा में पार्ट है। अभी जब भक्ति मार्ग का पार्ट पूरा हुआ तब आया हुआ हूँ। बच्चे भी कहते हैं, अभी हम जान गये, 5 हजार वर्ष के बाद फिर से आपके साथ मिले हैं। कल्प पहले भी बाबा आप ब्रह्मा तन में ही आये थे। यह ज्ञान तुमको अभी मिलता है फिर कभी नहीं मिलेगा। यह है ज्ञान, वह है भक्ति। ज्ञान की है प्रालब्ध, चढ़ती कला। सेकेण्ड में जीवनमुक्ति कहा जाता है। कहते हैं जनक ने सेकेण्ड में जीवनमुक्ति पाई। क्या सिर्फ एक जनक ने जीवनमुक्ति पाई? जीवनमुक्ति अर्थात् जीवन को मुक्त करते हैं, इस रावण राज्य से।

बाप जानते हैं सब बच्चों की कितनी दुर्गति हो गई है। उन्हों की फिर सद्गति होनी है। दुर्गति से फिर ऊंच गति, मुक्ति-जीवन-मुक्ति को पाते हैं। पहले मुक्ति में जाकर फिर जीवनमुक्ति में आयेंगे। शान्ति से फिर सुखधाम में आयेंगे। यह चक्र का सारा राज़ बाप ने समझाया है। तुम्हारे साथ और भी धर्म आते जाते हैं, मनुष्य सृष्टि वृद्धि को पाती जाती है। बाप कहते हैं इस समय यह मनुष्य सृष्टि का झाड़ तमोप्रधान जड़ जड़ीभूत हो गया है। आदि सनातन देवी-देवता धर्म का फाउन्डेशन सारा सड़ गया है। बाकी सब धर्म खड़े हैं। भारत में एक भी अपने को आदि सनातन देवी-देवता धर्म का समझता नहीं है। हैं देवता धर्म के परन्तु इस समय यह समझते नहीं हैं – हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के थे क्योंकि देवतायें तो पवित्र थे। समझते हैं हम तो पवित्र हैं नहीं। हम अपवित्र पतित अपने को देवता कैसे कहलायें? यह भी ड्रामा के प्लैन अनुसार रसम पड़ जाती है हिन्दू कहलाने की। आदमशुमारी में भी हिन्दू धर्म लिख देते हैं। भल गुजराती होंगे तो भी हिन्दू गुजराती कह देंगे। उन्हों से पूछो तो सही कि हिन्दू धर्म कहाँ से आया? तो कोई को पता नहीं हैं सिर्फ कह देते – हमारा धर्म कृष्ण ने स्थापन किया। कब? द्वापर में। द्वापर से ही यह लोग अपने धर्म को भूल हिन्दू कहलाने लगे हैं इसलिए उन्हों को दैवी धर्म भ्रष्ट कहा जाता है। वहाँ सब अच्छा कर्म करते हैं। यहाँ सब छी-छी कर्म करते हैं इसलिए देवी-देवता धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट कहा जाता है। अब फिर श्रेष्ठ धर्म, श्रेष्ठ दैवी कर्म की स्थापना हो रही है इसलिए कहा जाता है अब इन 5 विकारों को छोड़ते जाओ। यह विकार आधाकल्प से रहे हैं। अब एक जन्म में इनको छोड़ना – इसमें ही मेहनत लगती है। मेहनत बिगर थोड़ेही विश्व की बादशाही मिलेगी। बाप को याद करेंगे तब ही अपने को तुम राजाई का तिलक देते हो अर्थात् राजाई के अधिकारी बनते हो। जितना अच्छी रीति याद में रहेंगे, श्रीमत पर चलेंगे तो तुम राजाओं का राजा बनेंगे। पढ़ाने वाला टीचर तो आया है पढ़ाने। यह पाठशाला है ही मनुष्य से देवता बनने की। नर से नारायण बनाने की कथा सुनाते हैं। यह कथा कितनी नामीग्रामी है। इनको अमरकथा, सत्य नारायण की कथा, तीजरी की कथा भी कहते हैं। तीनों का अर्थ भी बाप समझाते हैं। भक्ति मार्ग की तो बहुत कथायें हैं। तो देखो गीत कितना अच्छा है। बाबा हमको सारे विश्व का मालिक बनाते हैं, जो मालिकपना कोई लूट न सके। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा यह स्मृति रखनी है कि हम एक मत, एक राज्य, एक धर्म की स्थापना के निमित्त हैं इसलिए एक मत होकर रहना है।

2) स्वयं को राजाई का तिलक देने के लिए विकारों को छोड़ने की मेहनत करनी है। पढ़ाई पर पूरा ध्यान देना है।

वरदान:- त्रिकालदर्शी स्थिति द्वारा माया के वार से सेफ रहने वाले अतीन्द्रिय सुख के अधिकारी भव
संगमयुग का विशेष वरदान वा ब्राह्मण जीवन की विशेषता है – अतीन्द्रिय सुख। यह अनुभव और किसी भी युग में नहीं होता। लेकिन इस सुख की अनुभूति के लिए त्रिकालदर्शी स्थिति द्वारा माया के वार से सेफ रहो। अगर बार-बार माया का वार होता रहेगा तो चाहते हुए भी अतीन्द्रिय सुख का अनुभव कर नहीं पायेंगे। जो अतीन्द्रिय सुख का अनुभव कर लेते हैं उन्हें इन्द्रियों का सुख आकर्षित कर नहीं सकता, नॉलेजफुल होने के कारण उनके सामने वह तुच्छ दिखाई देगा।
स्लोगन:- कर्म और मन्सा दोनों सेवा का बैलेन्स हो तो शक्तिशाली वायुमण्डल बना सकेंगे।

TODAY MURLI 5 FEBRUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 5 February 2020

05/02/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to pass with honours, your intellects’ yoga should not wander even slightly. Remember the one Father alone. Those who remember anyone’s body cannot claim a high status.
Question: What is the highest destination?
Answer: The highest destination for you souls is when you die alive and belong to the one Father alone; when you don’t remember anyone else and completely forget all consciousness of your bodies. The highest destination is to make your stage constantly soul conscious. It is through this that you will attain your karmateet stage.
Song: You are the Ocean of Love; we thirst for one drop!

Om shanti. Now, this song is wrong. Instead of love, it should be Ocean of Knowledge. You can’t fill an urn with love. You can fill an urn with the water of the Ganges etc. So, that praise belongs to the path of devotion. That is wrong and this is right. First of all, the Father is the Ocean of Knowledge. Even if you children have a little knowledge, you can claim a very high status. You children know that, at this time, you definitely are members of this living Dilwala Temple. That Dilwala Temple is non-living whereas this is the living Dilwala Temple. This too is a wonder. You are sitting here in the living form, whereas that is your non-living memorial. However, human beings do not understand anything. As you progress further, they will come to understand that this is definitely God,the Father’s, university and that God is teaching here. There cannot be any university greater than this one. They will understand that this is the living Dilwala Temple. That Dilwala Temple is an accurate memorial of you. Above, on the ceiling, they have portrayed the sun dynasty and the moon dynasty. Then, Adi Dev, Adi Devi and you children are portrayed sitting on the floor in yoga. This one’s name is Brahma, and Saraswati is the daughter of Brahma. Since there is Prajapita Brahma, there must also definitely be the gopes and gopis. Those images are non-living. Those images are of those who lived in the past, just as when someone dies, they very quickly make a picture of him. If they don’t know his position or biography, if they don’t write what his occupation was, that photograph would be of no use, because it is through this that you find out what particular task that person carried out. Now, although there are temples to the deities, no one knows their occupations or biographies. No one knows Shiv Baba, the Highest on High. At this time, you children know everyone’s biography. You know who the main ones who existed in the past were and why they are worshipped. God is the Highest on High. People celebrate Shiv Ratri. Therefore, He must definitely have incarnated. However, no one knows when He incarnated or what He did when He came. Together with Shiva, there is Brahma. Who was Adi Dev and who was Adi Devi? Why have they been portrayed with so many arms? That is to symbolise the growth that took place. So much expansion takes place through Prajapita Brahma. They say of Brahma that he has a 100 arms, that he has a 1000 arms. They do not speak about the many arms of Vishnu or Shankar. Why do they say this of Brahma? The whole creation is that of Prajapita Brahma. There is no question of that many physical arms. Even though they speak of Brahma with 1000 arms, they do not know the meaning of that. You can now see in a practical way how many arms Brahma has. These arms are unlimited. Everyone accepts Prajapita Brahma but they do not know his occupation. A soul doesn’t have arms; it is the body that has arms. There are millions of brothers, and so how many arms would there be? However, they first have to understand all the knowledge clearly before you can then relate all of these things. The first and main thing is that the one Father says: Remember Me and remember the inheritance. The Ocean of Knowledge has also been remembered; He gives so many points of knowledge. Not all of these points can be remembered; just the essence remains in the intellect. Finally, the essence that remains is “Manmanabhav”. Krishna cannot be the Ocean of Knowledge; he is part of creation. Only the one Father is the Creator. It is the Father who gives everyone the inheritance and takes everyone back home. The home of the Father and the home of souls is the abode of silence. The land of Vishnu is not called the Father’s home. The incorporeal world where souls reside is the home. Sensible children are able to imbibe all of these aspects. Not all of this knowledge can remain in anyone’s intellect nor are you able to write that much on paper. If you were to collect all of these murlis together, the whole hall would be filled with them. In other studies there are so many books. Once they have passed their examinations, just the essence remains in their intellects. When they pass their law exams they have temporary happiness for one birth. That brings them a perishable income. This Father enables you to earn an imperishable income for the future. Gurus and saints etc. only enable people to earn a perishable income. When destruction comes closer, that income will decrease. You would say that the income actually increases, but it’s not so. All of this is going to be destroyed. Previously, kings had their own income etc. to use. Nowadays, they don’t have even that. Your income lasts for so long. You know that this drama is predestined and that no one in the world knows about it. Each one of you imbibes this, numberwise. Some of you are not able to explain anything. Some say that they explain to their friends and relatives etc., but that too is only for a temporary period. Why aren’t you able to explain these things to others at the exhibitions etc? Because you haven’t imbibed it accurately. Don’t consider yourself to be so clever! If you are enthusiastic about serving, you should listen to those who explain clearly. The Father has come to enable you to claim a high status and so you do have to make some effort. However, if it’s not in your fortune, you don’t even accept shrimat and your status is then destroyed. This kingdom is being established according to the drama plan. All varieties are needed for this kingdom. You children can understand that some will become good subjects and some less so. The Father says: I have come to teach you Raj Yoga. There are the images of the kings in the Dilwala Temple. Those who become worthy of worship become worshippers later. The status of those kings and queens is high. Even when they fall on to the path of sin, there are also kingdoms with wealthy people. In the Jagadnath Temple everyone is shown wearing a crown. Subjects don’t wear crowns. Those kings and queens wearing crowns are also portrayed indulging in vice. They too have a great deal of happiness and wealth but some would have more wealth and some less. There is, of course, a difference between palaces studded with diamonds and palaces of silver. Therefore, the Father says to you children: Make good effort to claim a high status. Kings have greater happiness. There, everyone is happy whereas here, everyone is unhappy. Everyone here experiences sickness etc. There is only happiness there, but their status is still numberwise. The Father says: Always continue to make effort; don’t be lazy. It is understood, from the efforts you make, what kind of salvation you will receive according to the drama. In order to claim salvation, you must follow shrimat. If a student doesn’t follow the instructions his teacher gives him, he is useless. All of you are numberwise according to the efforts you make. If you say that you are unable to do something, then what would you learn? You have to study and become wise so that people will say that you explain very well. However, you souls do have to die alive and only belong to the one Father. The highest destination is not to remember anyone else and to break all body consciousness. You have to forget everything. The high destination is when you have made your stage completely soul conscious. Souls up there are bodiless and then they come down here and adopt bodies. Now, whilst you are here, you must consider yourself to be bodiless. This effort is very great. You have to consider yourselves to be souls and attain your karmateet stage. Even a snake has enough sense to discard its old skin. You also have to discard your body consciousness. When you are in the supreme abode you are soul conscious anyway. Whilst you are here and in a body you must consider yourself to be a soul. The consciousness of bodies should be broken. This is such a huge examination that God Himself has to come to teach you. No one else would say: Renounce all relationships of the body and belong to Me. Consider yourselves to be incorporeal souls. You should have no consciousness of anything else at all. Maya traps you in the consciousness of one another’s bodies. This is why Baba says that you mustn’t even remember this corporeal one. Baba says: You even have to forget your own bodies and remember the one Father. This does take a lot of effort. Maya traps even very good children in the names and forms of others. That habit is very bad. To remember someone’s body means to remember evil spirits. I tell you to remember one Shiv Baba alone, but you then keep remembering the five evils spirits. There should not be any attachment to anyone’s body. You have to study with your teacher but you mustn’t become trapped in that teacher’s name and form. It does take effort to become soul conscious. Many children send their charts to Baba, but Baba doesn’t have faith in them. Some say: I remember no one but Shiv Baba. However, Baba knows that the remembrance they have isn’t worth even a penny. It is remembrance that takes great effort. Souls get trapped by someone or other. To remember a bodily being means to remember the five evil spirits. It is also known as the worship of evil spirits. You remember evil spirits. Here, you only remember one Shiv Baba. There is no question of worshipping. You have completely finished all name and trace of devotion, and so why do you remember those images? They too are made of clay. The Father says: All of this is fixed in the drama. I have to change you from worshippers into those who are worthy of worship. You must not remember any bodily beings at all; no one but the one Father. When you souls become pure you will receive pure bodies. Now those bodies are not pure. Whilst souls are changing from satopradhan to sato, rajo and tamo, they receive bodies accordingly. You souls are now continuing to be purified, but your bodies will not become pure here. These things have to be understood. These points will sit in the intellects of those who understand them well and who continue to explain them to others. It is souls that have to become satopradhan. It takes great effort to remember the Father. Some of you aren’t able to have the slightest remembrance. In order to pass with honours, your intellects’ yoga mustn’t wander anywhere even slightly. You should only have remembrance of the one Father, but your intellects’ yoga keeps wandering around. The more you make others equal to yourselves, the higher the status you will claim. Those who remember someone’s body can never claim a high status. You have to pass with honours here. How can you claim a high status unless you make this effort? Those who remember someone’s body are unable to make any effort at all. The Father says: Follow the ones who make effort. This one is also an effort-maker. This knowledge is unique. No one else in the world knows these things. It isn’t in anyone else’s intellect how souls change. All of this takes incognito effort. Baba is incognito. How do you claim your kingdom? You don’t have to fight or quarrel for this at all. The whole thing is about knowledge and yoga. You don’t have to fight anyone for this. Effort is made to purify souls. When you souls become impure, you also begin to take impure bodies. You souls have to become pure once again and return home. This does take a lot of effort. Baba can understand what effort each of you makes. This is Shiv Baba’s treasure-store. You are doing service in Shiv Baba’s treasure-store. If you do not serve now, you claim a status worth pennies. If you come here to the Father to serve and you don’t serve, what status are you going to claim? A kingdom is being established here. Servants etc. also have to be created here. It is now that you conquer Ravan. There is no other war. This aspect that is now being explained to you is so incognito. You attain the kingdom of the world with your power of yoga. You know that you are residents of your abode of peace. You children should only remember your unlimited home. We have come here in order to play our parts and then return to that home. No one understands how souls return. Souls then have to come down here according to the dramaplan. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not have attachment to any bodily beings. To remember someone’s body means to remember the evil spirits. Therefore, do not become trapped in anyone’s name and form. You must even forget your own body.
  2. Accumulate an imperishable income for the future. Become sensible and imbibe the points of knowledge in your intellect. Understand the things that the Father explains and then explain them to others.
Blessing: May you be loved by Dilaram, the Comforter of Hearts, and claim number one on the basis of having an honest and clean heart.
The Father, the Comforter of Hearts, only loves the children who have honest hearts. Even if someone isn’t worldly-wise but has an honest and clean heart, he will claim number one. The Father gives such a big intellect and by knowing the Creator with it, you come to know the knowledge of the beginning, middle and end of creation. So, the numbers are based on having an honest and clean heart, not on the basis of service. Service done with a true heart makes an impacts on hearts. Those who are brainy people earn a name whereas those with a heart earn blessings.
Slogan: To have pure thoughts and good wishes for everyone is to give true upliftment.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 FEBRUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 February 2020

05-02-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – पास विद् ऑनर होना है तो बुद्धियोग थोड़ा भी कहीं न भटके, एक बाप की याद रहे, देह को याद करने वाले ऊंच पद नहीं पा सकते”
प्रश्नः- सबसे ऊंची मंजिल कौन-सी है?
उत्तर:- आत्मा जीते जी मरकर एक बाप की बने और कोई याद न आये, देह-अभिमान बिल्कुल छूट जाये – यही है ऊंची मंजिल। निरन्तर देही-अभिमानी अवस्था बन जाये-यह है बड़ी मंजिल। इसी से कर्मातीत अवस्था को प्राप्त करेंगे।
गीत:- तू प्यार का सागर है………… 

ओम् शान्ति। अब यह गीत भी राँग है। प्यार के बदले होना चाहिए ज्ञान का सागर। प्यार का कोई लोटा नहीं होता। लोटा, गंगा जल आदि का होता है। तो यह है भक्ति मार्ग की महिमा। यह है राँग और वह है राइट। बाप पहले-पहले तो ज्ञान का सागर है। बच्चों में थोड़ा भी ज्ञान है तो बहुत ऊंच पद प्राप्त करते हैं। बच्चे जानते हैं कि अब इस समय हम बरोबर चैतन्य देलवाड़ा मन्दिर के भाती हैं। वह है जड़ देलवाड़ा मन्दिर और यह है चैतन्य देलवाड़ा। यह भी वण्डर है ना। जहाँ जड़ यादगार है वहाँ तुम चैतन्य आकर बैठे हो। परन्तु मनुष्य कुछ समझते थोड़ेही है। आगे चलकर समझेंगे कि बरोबर यह गॉड फादरली युनिवर्सिटी है, यहाँ भगवान पढ़ाते हैं। इससे बड़ी युनिवर्सिटी और कोई हो न सके। और यह भी समझेंगे कि यह तो बरोबर चैतन्य देलवाड़ा मन्दिर है। यह देलवाड़ा मन्दिर तुम्हारा एक्यूरेट यादगार है। ऊपर छत में सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी हैं, नीचे आदि देव आदि देवी और बच्चे बैठे हैं। इनका नाम है-ब्रह्मा, फिर सरस्वती है ब्रह्मा की बेटी। प्रजापिता ब्रह्मा है तो जरूर गोप-गोपियाँ भी होंगे ना। वह है जड़ चित्र। जो पास्ट होकर गये हैं उन्हों के फिर चित्र बने हुए हैं। कोई मरता है तो झट उनका चित्र बना देते हैं, उनकी पोज़ीशन, बायोग्राफी का तो पता है नहीं। आक्यूपेशन नहीं लिखें तो वह चित्र कोई काम का न रहे। मालूम पड़ता है फलाने ने यह-यह कर्तव्य किया है। अब यह जो देवताओं के मन्दिर हैं, उन्हों के आक्यूपेशन, बायोग्राफी का किसको पता नहीं है। ऊंच ते ऊंच शिवबाबा को कोई भी नहीं जानते हैं। इस समय तुम बच्चे सबकी बायोग्राफी को जानते हो। मुख्य कौन-कौन होकर गये हैं जिन्हों को पूजते हैं? ऊंच ते ऊंच है भगवान। शिवरात्रि भी मनाते हैं तो जरूर उनका अवतरण हुआ है परन्तु कब हुआ, उसने क्या आकर किया-यह किसको भी पता नहीं है। शिव के साथ है ही ब्रह्मा। आदि देव और आदि देवी कौन हैं, उन्हों को इतनी भुजायें क्यों दी हैं? क्योंकि वृद्धि तो होती है ना। प्रजापिता ब्रह्मा से कितनी वृद्धि होती है। ब्रह्मा के लिए ही कहते हैं-100 भुजायें, हज़ार भुजाओं वाला। विष्णु वा शंकर के लिए इतनी भुजायें नहीं कहेंगे। ब्रह्मा के लिए क्यों कहते हैं? यह प्रजापिता ब्रह्मा की ही सारी वंशावली है ना। यह कोई बाहों की बात नहीं है। वह भल कहते हैं हज़ार भुजाओं वाला ब्रह्मा, परन्तु अर्थ थोड़ेही समझते हैं। अब तुम प्रैक्टिकल में देखो ब्रह्मा की कितनी भुजायें हैं। यह है बेहद की भुजायें। प्रजापिता ब्रह्मा को तो सब मानते हैं परन्तु आक्यूपेशन को नहीं जानते। आत्मा की तो बाहें नहीं होती, बाहें शरीर की होती हैं। इतने करोड़ ब्रदर्स हैं तो उन्हों की भुजायें कितनी हुई? परन्तु पहले जब कोई पूरी रीति ज्ञान को समझ जाये, तब बाद में यह बातें सुनानी हैं। पहली-पहली मुख्य बात है एक, बाप कहते हैं मुझे याद करो और वर्से को याद करो फिर ज्ञान का सागर भी गाया हुआ है। कितनी अथाह प्वाइन्ट्स सुनाते हैं। इतनी सब प्वाइन्ट्स तो याद रह न सकें। तन्त (सार) बुद्धि में रह जाता है। पिछाड़ी में तन्त हो जाता है-मन्मनाभव।

ज्ञान का सागर कृष्ण को नहीं कहेंगे। वह है रचना। रचता एक ही बाप है। बाप ही सबको वर्सा देंगे, घर ले जायेंगे। बाप का तथा आत्माओं का घर है ही साइलेन्स होम। विष्णुपुरी को बाप का घर नहीं कहेंगे। घर है मूलवतन, जहाँ आत्मायें रहती हैं। यह सब बातें सेन्सीबुल बच्चे ही धारण कर सकते हैं। इतना सारा ज्ञान कोई की बुद्धि में याद रह न सके। न इतने कागज लिख सकते हैं। यह मुरलियाँ भी सबकी सब इकट्ठी करते जायें तो इस सारे हाल से भी जास्ती हो जायें। उस पढ़ाई में भी कितने ढेर किताब होते हैं। इम्तहान पास कर लिया फिर तन्त बुद्धि में बैठ जाता है। बैरिस्टरी का इम्तहान पास कर लिया, एक जन्म लिए अल्पकाल सुख मिल जाता है। वह है विनाशी कमाई। तुमको तो यह बाप अविनाशी कमाई कराते हैं-भविष्य के लिए। बाकी जो भी गुरु-गोसाई आदि हैं वह सब विनाशी कमाई कराते हैं। विनाश के नजदीक आते जाते हैं, कमाई कम होती जाती है। तुम कहेंगे कमाई तो बढ़ती जाती है, परन्तु नहीं। यह तो सब खत्म हो जाना है। आगे राजाओं आदि की कमाई चलती थी। अभी तो वे भी नहीं हैं। तुम्हारी कमाई तो कितना समय चलती है। तुम जानते हो यह बना बनाया ड्रामा है, जिसको दुनिया में कोई नहीं जानते हैं। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं, जिनको धारणा होती है। कई तो बिल्कुल कुछ भी समझा नहीं सकते हैं। कोई कहते हैं हम मित्र-सम्बन्धियों आदि को समझाते हैं, वह भी तो अल्पकाल हुआ ना। औरों को प्रदर्शनी आदि क्यों नहीं समझाते? पूरी धारणा नहीं है। अपने को मिया मिठ्ठू तो नहीं समझना है ना। सर्विस का शौक है तो जो अच्छी रीति समझाते हैं, उनका सुनना चाहिए। बाप ऊंच पद प्राप्त कराने आये हैं तो पुरूषार्थ करना चाहिए ना। परन्तु तकदीर में नहीं है तो श्रीमत भी नहीं मानते, फिर पद भ्रष्ट हो जाता है। ड्रामा प्लेन अनुसार राजधानी स्थापन हो रही है। उसमें तो सब प्रकार के चाहिए ना। बच्चे समझ सकते हैं कोई अच्छी प्रजा बनने वाले हैं, कोई कम। बाप कहते हैं हम तुमको राजयोग सिखलाने आया हूँ। देलवाड़ा मन्दिर में राजाओं के चित्र हैं ना। जो पूज्य बनते हैं वही फिर पुजारी बनते हैं। राजा-रानी का मर्तबा तो ऊंच है ना। फिर वाम मार्ग में आते हैं तब भी राजाई अथवा बड़े-बड़े साहूकार तो हैं। जगन्नाथ के मन्दिर में सबको ताज दिखाया है। प्रजा को तो ताज नहीं होगा। ताज वाले राजायें भी विकार में दिखाते हैं। सुख सम्पत्ति तो उन्हों को बहुत होगी। सम्पत्ति कम जास्ती तो होती है। हीरे के महल और चाँदी के महलों में फर्क तो होता है। तो बाप बच्चों को कहेंगे-अच्छा पुरूषार्थ कर ऊंच पद पाओ। राजाओं को सुख जास्ती होता है, वहाँ सब सुखी होते हैं। जैसे यहाँ सबको दु:ख है, बीमारी आदि तो सबको होती ही है। वहाँ सुख ही सुख है, फिर भी मर्तबे तो नम्बरवार हैं। बाप सदैव कहते हैं पुरूषार्थ करते रहो, सुस्त मत बनो। पुरूषार्थ से समझा जाता है ड्रामा अनुसार इनकी सद्गति इस प्रकार इतनी ही होती है।

अपनी सद्गति के लिए श्रीमत पर चलना है। टीचर की मत पर स्टूडेन्ट न चलें तो कोई काम के नहीं। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार तो सब हैं। अगर कोई कहते हैं कि हम यह नहीं कर सकेंगे तो बाकी क्या सीखेंगे! सीखकर होशियार होना चाहिए, जो कोई भी कहे यह समझाते तो बहुत अच्छा हैं परन्तु आत्मा जीते जी मरकर एक बाप की बनें, और कोई याद न आये, देह-अभिमान छूट जाये-यह है ऊंची मंजिल। सब कुछ भूलना है। पूरी देही-अभिमानी अवस्था बन जाये-यह बड़ी मंजिल है। वहाँ आत्मायें हैं ही अशरीरी फिर यहाँ आकर देह धारण करती हैं। अब फिर यहाँ इस देह में होते हुए अपने को अशरीरी समझना है। यह मेहनत बड़ी भारी है। अपने को आत्मा समझ कर्मातीत अवस्था में रहना है। सर्प को भी अक्ल है ना-पुरानी खाल छोड़ देते हैं। तो तुमको देह-अभिमान से कितना निकलना है। मूलवतन में तो तुम हो ही देही-अभिमानी। यहाँ देह में होते अपने को आत्मा समझना है। देह-अभिमान टूट जाना चाहिए। कितना भारी इम्तहान है। भगवान को खुद आकर पढ़ाना पड़ता है। ऐसे और कोई कह न सके कि देह के सब सम्बन्ध छोड़ मेरा बनो, अपने को निराकार आत्मा समझो। कोई भी चीज का भान न रहे। माया एक-दो की देह में बहुत फँसाती है इसलिए बाबा कहते हैं इस साकार को भी याद नहीं करना है। बाबा कहते तुमको तो अपनी देह को भी भूलना है, एक बाप को याद करना है। इसमें बहुत मेहनत है। माया अच्छे-अच्छे बच्चों को भी नाम-रूप में लटका देती है। यह आदत बड़ी खराब है। शरीर को याद करना-यह तो भूतों की याद हो गई। हम कहते हैं एक शिवबाबा को याद करो। तुम फिर 5 भूतों को याद करते रहते हो। देह से बिल्कुल लगाव नहीं होना चाहिए। ब्राह्मणी से भी सीखना है, न कि उनके नाम-रूप में लटकना है। देही-अभिमानी बनने में ही मेहनत है। बाबा के पास भल चार्ट बहुत बच्चे भेज देते हैं परन्तु बाबा उस पर विश्वास नहीं करता है। कोई तो कहते हैं हम शिवबाबा के सिवाए और किसको याद नहीं करते हैं, परन्तु बाबा जानते हैं-पाई भी याद नहीं करते हैं। याद की तो बड़ी मेहनत है। कहाँ न कहाँ फँस पड़ते हैं। देहधारी को याद करना, यह तो 5 भूतों की याद है। इनको भूत पूजा कहा जाता है। भूत को याद करते हैं। यहाँ तो तुमको एक शिवबाबा को याद करना है। पूजा की तो बात नहीं। भक्ति का नाम-निशान गुम हो जाता है फिर चित्रों को क्या याद करना है। वह भी मिट्टी के बने हुए हैं। बाप कहते हैं यह भी सब ड्रामा में नूँध है। अब फिर तुमको पुजारी से पूज्य बनाता हूँ। कोई भी शरीर को याद नहीं करना है, सिवाए एक बाप के। आत्मा जब पावन बन जायेगी तो फिर शरीर भी पावन मिलेगा। अभी तो यह शरीर पावन नहीं है। पहले आत्मा जब सतोप्रधान से सतो, रजो, तमो में आती है तो शरीर भी उस अनुसार मिलता है। अभी तुम्हारी आत्मा पावन बनती जायेगी लेकिन शरीर अभी पावन नहीं होगा। यह समझने की बातें हैं। यह प्वाइन्ट्स भी उनकी बुद्धि में बैठेंगी जो अच्छी रीति समझकर समझाते रहते हैं। सतोप्रधान आत्मा को बनना है। बाप को याद करने की ही बड़ी मेहनत है। कइयों को तो ज़रा भी याद नहीं रहती है। पास विद् ऑनर बनने के लिए बुद्धियोग थोड़ा भी कहीं न भटके। एक बाप की ही याद रहे। परन्तु बच्चों का बुद्धियोग भटकता रहता है। जितना बहुतों को आप समान बनायेंगे उतना ही पद मिलेगा। देह को याद करने वाले कभी ऊंच पद पा न सकें। यहाँ तो पास विद् ऑनर होना है। मेहनत बिगर यह पद कैसे मिलेगा! देह को याद करने वाले कोई पुरूषार्थ नहीं कर सकते। बाप कहते हैं पुरूषार्थ करने वाले को फालो करो। यह भी पुरूषार्थी है ना।

यह बड़ा विचित्र ज्ञान है। दुनिया में किसको भी पता नहीं है। किसकी भी बुद्धि में नहीं बैठेगा कि आत्मा की चेन्ज कैसे होती है। यह सारी गुप्त मेहनत है। बाबा भी गुप्त है। तुम राजाई कैसे प्राप्त करते हो, लड़ाई-झगड़ा कुछ भी नहीं है। ज्ञान और योग की ही बात है। हम कोई से लड़ते नहीं हैं। यह तो आत्मा को पवित्र बनाने के लिए मेहनत करनी है। आत्मा जैसे-जैसे पतित बनती जाती है तो शरीर भी पतित लेती है फिर आत्मा को पावन बनकर जाना है, बहुत मेहनत है। बाबा समझ सकते हैं-कौन-कौन पुरूषार्थ करते हैं! यह है शिवबाबा का भण्डारा। शिवबाबा के भण्डारे में तुम सर्विस करते हो। सर्विस नहीं करेंगे तो पाई पैसे का पद जाकर पायेंगे। बाप के पास सर्विस के लिए आये और सर्विस नहीं की तो क्या पद मिलेगा! यह राजधानी स्थापन हो रही है, इसमें नौकर-चाकर आदि सब बनेंगे ना। अभी तुम रावण पर जीत पाते हो, बाकी और कोई लड़ाई नहीं है। यह समझाया जाता है, कितनी गुप्त बात है। योगबल से विश्व की बादशाही तुम लेते हो। तुम जानते हो हम अपने शान्तिधाम के रहने वाले हैं। तुम बच्चों को बेहद का घर ही याद है। यहाँ हम पार्ट बजाने आये हैं फिर जाते हैं अपने घर। आत्मा कैसे जाती है यह भी कोई समझते नहीं हैं। ड्रामा प्लैन अनुसार आत्माओं को आना ही है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1. किसी भी देहधारी से लगाव नहीं रखना है। शरीर को याद करना भी भूतों को याद करना है, इसलिए किसी के नाम-रूप में नहीं लटकना है। अपनी देह को भी भूलना है।

2. भविष्य के लिए अविनाशी कमाई जमा करनी है। सेन्सीबुल बन ज्ञान की प्वाइन्ट्स को बुद्धि में धारण करना है। जो बाप ने समझाया है वह समझकर दूसरों को सुनाना है।

वरदान:- सच्चे साफ दिल के आधार से नम्बरवन लेने वाले दिलाराम पसन्द भव
दिलाराम बाप को सच्ची दिल वाले बच्चे ही पसन्द है। दुनिया का दिमाग न भी हो लेकिन सच्ची साफ दिल हो तो नम्बरवन ले लेंगे क्योंकि दिमाग तो बाप इतना बड़ा दे देता है जिससे रचयिता को जानने से रचना के आदि, मध्य, अन्त की नॉलेज को जान लेते हो। तो सच्ची साफ दिल के आधार से ही नम्बर बनते हैं, सेवा के आधार से नहीं। सच्चे दिल की सेवा का प्रभाव दिल तक पहुंचता है। दिमाग वाले नाम कमाते हैं और दिल वाले दुआयें कमाते हैं।
स्लोगन:- सर्व के प्रति शुभ चिंतन और शुभ कामना रखना ही सच्चा परोपकार है।

TODAY MURLI 5 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 4 February 2019 :- Click Here

05/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to change thorns into flowers. The Father has love for the thorns as well as the flowers. He makes effort to change the thorns into flowers.
Question: What are the signs of the children who have imbibed knowledge?
Answer: They perform wonders. They are not able to stay without benefiting themselves and others. When they are shot by the arrow, they become destroyers of attachment and become engaged in doing spiritual service. Their stage is constant, stable, unshakeable and immovable. They never perform senseless acts. They never cause anyone sorrow. They continue to remove the thorns of defects.

Om shanti. You children know that the Father is a big lever clock. He comes at the accurate time to change thorns into flowers. It cannot be any less or more by even a second; there cannot be the slightest difference. You sweetest children also know that, at this time, this is the iron-aged forest of thorns. Therefore, those who are to become flowers should feel that they are becoming flowers. Previously, we were all thorns: some small and others big. Some cause a lot of sorrow and others cause a little sorrow. The Father has love for everyone. There is the song: I have love for flowers and also for thorns. Whom does He love first? He definitely loves the thorns. He has so much love that He makes effort on them and changes them into flowers. In fact, He comes into the world of thorns. There cannot be the idea of omnipresence in this. There is praise of just the One. Praise of a soul is sung when that soul takes a body and plays his part. It is the soul that becomes elevated and the soul that becomes corrupt. As a soul adopts a body and performs actions, accordingly, it is said whether a soul is one who performs sinful actions or one who performs pure actions. It is the soul that performs good or bad actions. Ask yourself: Am I a golden-aged, divine flower or an iron-aged, devilish thorn? There is a vast difference between the golden age and the iron age. There is a lot of difference between deitiesand devils. Those who are thorns cannot call themselves flowers. There are flowers in the golden age; they don’t exist in the iron age. This is now the confluence age when you are changing from thorns into flowers. When the T eacher gives you a lesson, it is the duty of you children to refine it and show it to the Teacher. In that, you should also write: If you want to become a flower, then consider yourself to be a soul and remember the Supreme Father, the Supreme Soul, who makes you into flowers. Your defects will then be removed and you will become satopradhan. Baba gives you an essay, and it is the duty of you children to correct it and get it printed so that all the people then think about it. This is a study. Baba is teaching you unlimited history and geography. In those schools, they teach the history and geography of the old world. No one knows the history and geography of the new world. So, this is a study and also an explanation. To perform a dirty action is senselessness. Then, it is explained that you mustn’t perform those vicious acts that cause sorrow. There is praise of the Father who is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Here, you are learning that you mustn’t cause anyone sorrow. The Father gives you the teaching: Always continue to give happiness. This stage is not created that quickly. You can claim your inheritance from the Father in a second but it does take time to become worthy. You understand that the inheritance from the unlimited Father is the sovereignty of heaven. You explain that Bharat received the sovereignty of the world from the parlokik Father. All of you were the masters of the world. You children should have that happiness inside you. It is only a matter of yesterday when you were the masters of the world. People speak of hundreds of thousands of years. They say that the duration of every age is hundreds of thousands of years, whereas you say that the duration of the whole cycle is 5000 years: there is a lot of difference. Only the one Father is the Ocean of Knowledge. You should imbibe divine virtues from Him. People of the world continue to become tamopradhan day by day, they continue to learn more and more defects. Previously, there wasn’t as much corruption or adulteration. It is now increasing. You are now continuing to become satopradhan with the power of remembrance of the Father. Just as you come down, so you also have to return. First of all, you have the happiness that you have found the Father. Your connection is forged and there is the pilgrimage of remembrance. Those who have performed greater devotion would have a greater pilgrimage of remembrance. Many children say: Baba, I am unable to have remembrance. The same thing happens on the path of devotion. When they sit down to listen to a religious story, their intellects wander in other directions. The one who is relating the story watches them and would then suddenly ask them a question: “What did I just ask you?” Then they look confused, whereas others would be able to reply instantly. Not all are the same: although they are sitting here, they don’t imbibe anything at all. If they were to imbibe knowledge, they would show wonders. They would not be able to stay without benefiting themselves and others. Although some have a lot of happiness in their home – they may have a mansion and a car etc. – once the arrow hits them, that’s it. She would tell her husband: I want to do this spiritual service. However, Maya is very powerful. She doesn’t allow her to do that: there is attachment. How could she renounce all those mansions and all that happiness? Ah! but what about all the happiness that you experienced at first? Some belonged to big families of millionaires and multimillionaires and they renounced everything and came here. Their fortune shows that they don’t have the courage to let go of everything. They are caught by the chains of Ravan; those chains are of the intellect. The Father explains: Ah! but you are becoming worthy-of-worship masters of the world. The Father guarantees that you will never fall ill for 21 births. You will remain ever healthy for 21 births. You may live with your husband, but simply get permission to remain pure and make others pure. It is your duty to remember the Father from whom you receive limitless happiness. By remembering Him you will become satopradhan from tamopradhan. This is a matter of great understanding. There is no guarantee for the body. At least belong to the Father! There is nothing lovelier than He is. The Father makes you into the masters of the world and He says: Become as satopradhan as you want. You will see limitless happiness. Baba has the gates to heaven opened through you mothers. He has placed the urn of knowledge on the mothers. Baba made mothers the trustees: You mothers look after everything. He had the urn placed on them through this one and then those people wrote that the ocean was churned and the urn of nectar was given to Lakshmi. You now know that Baba is opening the gates to heaven. So, why should we not claim our inheritance from Baba? Why should we not become mahavirs and be threaded in the rosary of victory? The unlimited Father takes you children into His lap. What for? In order to make you into the masters of heaven. He sits here and gives teachings to those who are complete thorns. So, He still loves the thorns. That is why He makes them into flowers. You invoke the Father to come into the impure world and an impure body: Leave Your land of nirvana and come here. The Father says: According to the drama, I have to come into the world of thorns. So, He surely loves you. How could He make you into flowers without Him having love? You now have to change from iron-aged thorns into golden-aged, satopradhan masters of the world. It is explained to you with so much love. A kumari is a flower and this is why everyone bows down at her feet. When she becomes a thorn (impure), she has to bow down to everyone. So, what should you do? You should remain a flower so that you become ‘ever flower . A kumari is viceless even though she has taken birth through vice, just as sannyasis take birth through vice. They get married and then leave their homes and families. People then call them great souls. There is a vast difference between the masters of the world of the golden age and the great souls of the iron age. This is why Baba has said: Ask them the question: Are you an iron-aged thorn or a golden-aged flower? Are you corrupt or elevated? Since this is the kingdom of Ravan, it is a corrupt world. It is said that it is the devilish kingdom, the kingdom of devils. However, none of them understand themselves to be that. When you children ask these questions tactfully, they will understand by themselves that they are lustful, angry and greedy people. Write these things in the exhibitions so that they feel that they are iron-aged thorns. You are now becoming flowers. Baba is constantly the Flower. He never becomes a thorn. However, all the rest become thorns. So, the Flower says: I am changing you thorns into flowers. Therefore, remember Me. Maya is so powerful. So, do you want to belong to Maya? The Father pulls you to Him and Maya pulls you to her. This is an old shoe. A soul takes a new shoe at first, and he then takes an old shoe. At this time, all shoes are tamopradhan. I make you like velvet. There, because souls are pure, they receive velvet bodies, nodefects. There are many defects here. Look how beautiful the features are there. No one can create those features here. The Father Himself says: I make you so elevated. While living at home with your family, become pure. There is the fire of yoga to remove the rust that has been accumulating on you for birth after birth. Your sins will be burnt by this. You will become real gold. You are given a very good method to remove the alloy: Constantly remember Me alone. You have this knowledge in your intellects. A soul is very tiny. If he were any bigger, he could not enter. How would he enter? Doctors beat their heads so much to be able to see a soul. However, they cannot be seen. You can have a vision, but there is no benefit in having visions. For instance, if you have a vision of Vaikunth (Paradise), what is the benefit in that? Only when the old world ends can you become a resident of Paradise. You have to practise yoga for that. The Father explains: Children, I first have love for thorns. The Father is the Ocean of Love to the maximum extent. You children are also continuing to become sweet. The Father says: Consider yourself to be a soul and see others as brothers and all criminal thoughts will then completely end. Your intellects cause mischief even with the relationship of brother and sister and you therefore have to see all as brothers. There, there is no consciousness of the body for there to be that awareness or that attachment. The Father only teaches souls. Therefore, you too must consider yourselves to be souls. Those bodies are perishable and so you mustn’t attach your hearts to them. In the golden age, you don’t have love for them. You have heard the story of the king who conquered attachment. It is said: The soul will shed one body and go and take another. He has received his part, so why should you have attachment? This is why Baba also says: Remain cautious. Eat halva even if your mother or your wife dies. Promise that, no matter who dies, you will not cry. Remember your Father and become satopradhan. There is no other way to become satopradhan. Only by making effort will you become a bead of the rosary of victory. You can become whatever you want by making effort. The Father understands that you will make the same effort that you made in the previous cycle. The Father is the Lord of the Poor. Donations are made to the poor. The Father Himself says: I enter an ordinary body, neither poor nor wealthy. Only you children know the Father, whereas the rest of the world calls Him omnipresent. The Father is establishing such a religion that there will be no mention of sorrow there. On the path of devotion, people ask for blessings. Here, there is no question of receiving mercy. Whom would you bow down to? He is just a point. You could bow down if He were something large. You cannot bow down to something so tiny. To whom would you put your palms together when you pray? All of those signs of the path of devotion will disappear. To put your palms together becomes the path of devotion. Do brothers and sisters put their palms together in front of one another at home? People ask to have a son in order to make him their heir. The child is the master and this is why the Father says namaste to the children. The Father is the children’s Servant. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not attach your heart to perishable bodies. Become a conqueror of attachment. Promise that, no matter who leaves the body, you will not cry.
  2. Become as sweet as the Father. Give happiness to everyone. Do not cause sorrow for anyone. Do the service of changing thorns into flowers. Bring benefit to yourself and others.
Blessing: May you be seated on a lotus seat and experience God’s love by being detached from any awareness of the body.
A lotus seat is a symbol of the elevated stage of Brahmin souls. Souls who are seated on such a lotus seat are automatically detached from any awareness of the body; no awareness of the body pulls them. Father Brahma always had the angelic form and the deity form in his awareness while walking and moving around. In the same way, when you have a natural, soul-conscious stage you are said to be detached from any awareness of the body. Those who stay beyond any awareness of the body are loved by God.
Slogan: Your specialities and virtues have been given by God as Prabhu Prasad and to consider them to be your own is arrogance of the body.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 February 2019

To Read Murli 4 February 2019 :- Click Here
05-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप आये हैं काँटों को फूल बनाने, बाप का प्यार काँटों से भी है, तो फूलों से भी है। काँटों को ही फूल बनाने की मेहनत करते हैं”
प्रश्नः- जिन बच्चों में ज्ञान की धारणा होगी उनकी निशानी सुनाओ?
उत्तर:- वह कमाल करके दिखायेंगे। वह अपना और दूसरों का कल्याण करने के बिगर रह नहीं सकते। तीर लग गया तो नष्टोमोहा बन रूहानी सर्विस में लग जायेंगे। उनकी अवस्था एकरस अचल-अडोल होगी। कभी कोई बेसमझी का काम नहीं करेंगे। किसी को भी दु:ख नहीं देंगे। अवगुण रूपी काँटों को निकालते जायेंगे।

ओम् शान्ति। यह तो बच्चे जानते हैं बाप बड़ी लीवर घड़ी है। बिल्कुल एक्यूरेट टाइम पर काँटों को फूल बनाने आते हैं। सेकण्ड भी कम जास्ती नहीं हो सकता। जरा भी फर्क नहीं पड़ सकता। यह भी मीठे-मीठे बच्चे जानते हैं कि इस समय है कलियुगी काँटों का जंगल। तो फूल बनने वालों को यह महसूसता आनी चाहिए कि हम फूल बन रहे हैं। पहले हम सब काँटें थे, कोई छोटे, कोई बड़े। कोई बहुत दु:ख देते हैं, कोई थोड़ा। अब बाप का प्यार तो सबसे है। गायन भी है काँटों से भी प्यार, फूलों से भी प्यार। पहले किससे प्यार है? जरूर काँटों से प्यार है। इतना प्यार है जो मेहनत कर उनको काँटों से फूल बनाते हैं। आते ही हैं काँटों की दुनिया में। इसमें सर्वव्यापी की बात नहीं हो सकती। एक की ही महिमा होती है। महिमा होती है आत्मा की। जब आत्मा शरीर धारण कर पार्ट बजाती है। श्रेष्ठाचारी भी आत्मा बनती है तो भ्रष्टाचारी भी आत्मा बनती है। आत्मा शरीर धारण कर जैसे-जैसे कर्म करती है, उस अनुसार कहा जाता है यह कुकर्मी है, यह सुकर्मी है। आत्मा ही अच्छा वा बुरा कर्म करती है। अपने से पूछो सतयुगी दैवी फूल हो व कलियुगी आसुरी काँटें हो? कहाँ सतयुग, कहाँ कलियुग! कहाँ डीटी, कहाँ डेविल! बहुत फ़र्क है। काँटे जो होते हैं वह अपने को फूल कह न सकें। फूल होते हैं सतयुग में, कलियुग में होते नहीं। अब यह है संगमयुग, जब तुम काँटे से फूल बनते हो। टीचर लेसन देते हैं, बच्चों का काम है उनको रिफाइन कर बताना। उसमें यह भी लिखो कि अगर फूल बनने चाहते हो तो अपने को आत्मा समझो और फूल बनाने वाले परमपिता परमात्मा को याद करो तो तुम्हारे अवगुण निकल जायेंगे और तुम सतोप्रधान बन जायेंगे। बाबा निबन्ध देते हैं। बच्चों का काम है करेक्ट कर छपाना। तो सभी मनुष्य सोच में पड़ जायें। यह पढ़ाई है। बाबा तुम्हें बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी पढ़ाते हैं। उन स्कूलों में तो पुराने वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी पढ़ाई जाती है। नई दुनिया की हिस्ट्री-जॉग्राफी तो कोई जानते ही नहीं। तो यह पढ़ाई भी है, समझानी भी है। कोई छी-छी काम करना बेसमझी है। फिर समझाया जाता है यह विकारी काम दु:ख देने का नहीं करना है। दु:ख हर्ता, सुखकर्ता बाप की महिमा है ना। यहाँ तुम भी सीख रहे हो किसको दु:ख नहीं देना है। बाप शिक्षा देते हैं – सदैव सुख देते रहो। यह अवस्था कोई जल्दी नहीं बनती है। सेकण्ड में बाप का वर्सा तो ले सकते हो। बाकी लायक बनने में टाइम लगता है। समझते हैं बेहद के बाप का वर्सा है स्वर्ग की बादशाही। तुम समझाते भी होंगे कि पारलौकिक बाप से भारत को विश्व की बादशाही मिली थी। तुम सब विश्व के मालिक थे। यह तो तुम बच्चों को अन्दर में खुशी होनी चाहिए। कल की बात है, जब तुम स्वर्ग के मालिक थे। मनुष्य कह देते लाखों वर्ष। कहाँ एक-एक युग की आयु लाखों वर्ष कह देते हैं, कहाँ सारे कल्प की आयु 5 हजार वर्ष है। बहुत फ़र्क है।

ज्ञान का सागर एक ही बेहद का बाप है। उनसे दैवीगुण धारण करने चाहिए। यह दुनिया के मनुष्य दिन-प्रतिदिन तमोप्रधान बनते जाते हैं। जास्ती अवगुण सीखते जाते हैं। आगे इतना करप्शन, एडलट्रेशन, भ्रष्टाचार नहीं था, अब बढ़ता जाता है। अभी तुम बाप की याद के बल से सतोप्रधान बनते जा रहे हो। जैसे उतरते हो, फिर जाना भी ऐसे ही है। पहले तो बाप मिला उसकी खुशी होगी, कनेक्शन जुटा फिर है याद की यात्रा। जिसने जास्ती भक्ति की होगी उनकी जास्ती याद की यात्रा होगी। बहुत बच्चे कहते हैं बाबा याद ठहरती नहीं है। भक्ति में भी ऐसे होता है। कथा सुनने बैठते हैं तो बुद्धि और-और तरफ भाग जाती है। सुनाने वाला देखता रहता है फिर अचानक पूछते हैं हमने क्या सुनाया तो वायरे हो जाते हैं। (मूंझ जाते हैं) कोई झट बतायेंगे। सब तो एक जैसे नहीं होते हैं। भल यहाँ बैठे हैं परन्तु धारणा कुछ भी नहीं। अगर धारणा होती तो कमाल कर दिखाते। वह अपना और दूसरों का कल्याण करने बिना रह नहीं सकते। भल किसको घर में बहुत सुख है, महल मोटरें आदि हैं परन्तु एक बार तीर लग गया तो बस, पति को कहेंगे हम यह रूहानी सर्विस करने चाहते हैं। परन्तु माया बड़ी जबरदस्त है, करने नहीं देती। मोह है ना। इतने महल, इतने सुख कैसे छोड़े। अरे, यह इतने सब पहले जो भागे। बड़े-बड़े लखपति, करोड़पति घर की थी, सब छोड़कर चली आई। यह तकदीर दिखाती है, इतनी ताकत नहीं है छोड़ने की। रावण की जंजीरों में जकड़े हुए हैं। यह हैं बुद्धि की जंजीरें। बाप समझाते हैं – अरे, तुम स्वर्ग के मालिक पूज्य बनते हो! बाप गैरन्टी करते हैं 21 जन्म तुम कभी बीमार नहीं पड़ेंगे। एवर हेल्दी 21 जन्मों तक रहेंगे। तुम भल रहो पति के पास सिर्फ उनकी छुट्टी लो – पवित्र बनूँगी और बनाऊंगी। यह तुम्हारा फ़र्ज है बाप को याद करना, जिससे अपार सुख मिलते हैं। याद करते-करते तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। कितनी समझ की बात है। शरीर पर भरोसा नहीं है। बाप का तो बन जाओ। उन जैसी प्यारी वस्तु कोई और नहीं है। बाप विश्व का मालिक बनाते हैं, कहते हैं जितना चाहो उतना सतोप्रधान बनो। तुम अपार सुख देखेंगे। बाबा स्वर्ग का द्वार इन नारियों से खुलवाते हैं। माताओं पर ही ज्ञान का कलष रखा जाता है। बाबा ने माताओं को ही ट्रस्टी बनाया है, सब-कुछ तुम मातायें ही सम्भालो। इनके द्वारा कलष रखा ना। फिर उन्होंने लिख दिया है सागर मंथन किया, अमृत का कलष लक्ष्मी को दिया। अभी तुम जानते हो – बाबा स्वर्ग का द्वार खोल रहे हैं। तो क्यों न हम बाबा से वर्सा लें। क्यों न विजय माला में पिरो जायें, महावीर बनें। बेहद का बाप बच्चों को गोद में लेते हैं – किसलिए? स्वर्ग का मालिक बनाने के लिए। एकदम काँटों को बैठ शिक्षा देते हैं। तो काँटों पर भी प्यार है ना तब तो उनको फूल बनाते हैं। बाप को बुलाते ही हैं पतित दुनिया और पतित शरीर में, निर्वाणधाम छोड़कर यहाँ आओ। बाप कहते हैं ड्रामा अनुसार मुझे कांटों की ही दुनिया में आना पड़ता है। तो जरूर प्यार है ना। बिगर प्यार फूल कैसे बनायेंगे? अभी तुम कलियुगी काँटे से सतयुगी देवता सतोप्रधान विश्व के मालिक बनो। कितना प्यार से समझाया जाता है। कुमारी फूल है तब तो सब उनके चरणों में गिरते हैं। वह जब काँटा (पतित) बनती है तो सबको माथा टेकना पड़ता है। तो क्या करना चाहिए? फूल का फूल रहना चाहिये तो एवरफूल बन जायेंगे। कुमारी तो निर्विकारी है ना, भल जन्म विकार से लिया है। जैसे सन्यासी जन्म तो विकार से लेते हैं ना। शादी कर फिर घर-बार को तलाक देते हैं। उन्हें फिर महान् आत्मा कहते हैं। कहाँ वह सतयुग के महान् आत्मा विश्व के मालिक, कहाँ यह कलियुग के! तब बाबा ने कहा – प्रश्न लिखो कि कलियुगी काँटे हो वा सतयुगी फूल हो? भ्रष्टाचारी हो या श्रेष्ठाचारी?

यह है भ्रष्टाचारी दुनिया जबकि रावण का राज्य है। कहते हैं आसुरी राज्य, राक्षस राज्य है। परन्तु अपने को कोई समझते थोड़ेही हैं। अब तुम बच्चे युक्ति से प्रश्न पूछते हो तब वह आपेही समझते हैं बरोबर हम तो कामी, क्रोधी, लोभी हैं। प्रदर्शनी में भी ऐसे लिखो तो उनको फीलिंग आये कि मैं तो कलियुगी काँटा हूँ। अभी तुम फूल बन रहे हो। बाबा तो एवरफूल है। वह कभी काँटा बनते नहीं। बाकी सब काँटे बनते हैं। वह फूल कहते हैं – तुमको भी काँटे से फूल बनाता हूँ। तुम मुझे याद करो। माया कितनी प्रबल है। तो क्या तुमको माया का बनना है? बाप तुमको अपनी तरफ खींचते हैं, माया अपनी तरफ खींचती है। यह है पुरानी जुत्ती। आत्मा को पहले नई जुत्ती मिलती है फिर पुरानी होती है। इस समय सब जुत्तियाँ तमोप्रधान हैं। मैं तुमको मखमल का बना देता हूँ। वहाँ आत्मा प्योर होने के कारण शरीर भी मखमल का होता है। नो डिफेक्ट। यहाँ तो बहुत डिफेक्ट हैं। वहाँ के फीचर्स तो देखो कितने सुन्दर हैं। वो फीचर तो यहाँ कोई बना न सके। अब बाप भी कहते हैं हम कितना ऊंच बनाते हैं। घर गृहस्थ में कमल समान पवित्र बनो और जन्म-जन्मान्तर की जो कट चढ़ी हुई है, उनको निकालने के लिए योग अग्नि है। इसमें सब पाप भस्म हो जायेंगे। तुम पक्का सोना बन जायेंगे। खाद निकालने की युक्ति बहुत अच्छी बताते हैं, मामेकम् याद करो। तुम्हारी बुद्धि में यह ज्ञान है। आत्मा भी बहुत छोटी है। बड़ी हो तो इनमें प्रवेश कर न सके। कैसे करेगी? आत्मा को देखने के लिए डॉक्टर बहुत माथा मारते हैं, परन्तु देखने में नहीं आती है। साक्षात्कार होता है। परन्तु साक्षात्कार से तो कोई फायदा नहीं होता। समझो तुमको वैकुण्ठ का साक्षात्कार हुआ लेकिन इससे फायदा क्या! वैकुण्ठवासी तो तब बनेंगे जब पुरानी दुनिया खत्म हो। इसके लिए तुम योग का अभ्यास करो।

तो बाप समझाते हैं बच्चे, पहले काँटों से प्यार होता है। सबसे जास्ती प्यार का सागर है बाप। तुम बच्चे भी मीठे बनते जाते हो। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ भाई-भाई को देखो तो क्रिमिनल ख्यालात बिल्कुल निकल जायेंगे। भाई-बहन के सम्बन्ध से भी बुद्धि चलायमान होती है इसलिए भाई-भाई को देखो। वहाँ तो शरीर ही नहीं जो भान आये या मोह जाये। बाप आत्माओं को ही पढ़ाते हैं। तो तुम भी अपने को आत्मा समझो। यह शरीर विनाशी है, इनसे थोड़ेही दिल लगानी है। सतयुग में इनसे प्रीत नहीं होती है। मोह जीत राजा की कथा सुनी है ना। बोला आत्मा एक शरीर छोड़ जाकर दूसरा लेगी। पार्ट मिला हुआ है, मोह क्यों रखें? इसलिए बाबा भी कहते हैं ख़बरदार रहना। अम्मा मरे, बीबी मरे हलुआ खाना। यह प्रतिज्ञा करो कोई भी मरे हमको रोना नहीं है। तुम अपने बाप को याद करो, सतोप्रधान बनो। और कोई रास्ता नहीं है सतोप्रधान बनने का। पुरुषार्थ से ही विजय माला का दाना बनेंगे। पुरुषार्थ से जो चाहे सो बन सकते हो। बाप तो समझते हैं जितना पुरुषार्थ कल्प पहले किया होगा वही करेंगे। बाप तो है ही गरीब निवाज। दान भी गरीबों को ही दिया जाता है। बाप खुद कहते हैं मैं भी साधारण तन में आता हूँ। न गरीब, न साहूकार। तुम बच्चे ही बाप को जानते हो, बाकी सारी दुनिया तो सर्वव्यापी कह देती है। बाप ऐसा धर्म स्थापन करते हैं जो वहाँ दु:ख का नाम भी नहीं रहेगा।

भक्ति मार्ग में मनुष्य आशीर्वाद माँगते हैं। यहाँ तो कृपा की कोई बात नहीं। माथा किसको टेकेंगे? बिन्दी है ना। बड़ी चीज़ हो तो माथा भी टेकें। छोटी चीज को माथा भी नहीं टेक सकते। हाथ किसको जोड़ेंगे। यह भक्ति मार्ग की निशानियाँ सब गुम हो जाती हैं। हाथ जोड़ना भक्ति मार्ग हो जाता है। बहन-भाई हैं, घर में हाथ जोड़ते हैं क्या? बच्चा माँगते ही हैं वारिस बनाने के लिए। बच्चा मालिक ठहरा ना इसलिए बाप बच्चों को नमस्ते करते हैं। बाप तो बच्चों का सर्वेन्ट है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विनाशी शरीर से दिल नहीं लगानी है। मोहजीत बनना है, प्रतिज्ञा करो कि कोई भी शरीर छोड़े, हम कभी रोयेंगे नहीं।

2) बाप समान मीठा बनना है, सबको सुख देना है। किसको दु:ख नहीं देना है। काँटों को फूल बनाने की सेवा करनी है। अपना और दूसरों का कल्याण करना है।

वरदान:- देह-भान से न्यारे बन परमात्म प्यार का अनुभव करने वाले कमल आसनधारी भव
कमल आसन ब्राह्मण आत्माओं के श्रेष्ठ स्थिति की निशानी है। ऐसी कमल आसनधारी आत्मायें इस देहभान से स्वत: न्यारी रहती हैं। उन्हें शरीर का भान अपनी तरफ आकर्षित नहीं करता। जैसे ब्रह्मा बाप को चलते फिरते फरिश्ता रूप वा देवता रूप सदा स्मृति में रहा। ऐसे नेचुरल देही-अभिमानी स्थिति सदा रहे इसको कहते हैं देह-भान से न्यारे। ऐसे देह-भान से न्यारे रहने वाले ही परमात्म प्यारे बन जाते हैं।
स्लोगन:- आपकी विशेषतायें वा गुण प्रभु प्रसाद हैं, उन्हें मेरा मानना ही देह-अभिमान है।
Font Resize