5 december ki murli

TODAY MURLI 5 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 5 December 2020

05/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you now have to return home and you must therefore become soul conscious. Remember the one Father and your final thoughts will lead you to your destination.
Question: What wonderful secret has the wonderful Father revealed to you?
Answer: Baba says: Children, this eternal, imperishable drama is predestined. Each one’s part in it is fixed. Anything that happens is nothing new. The Father says: Children, there is no greatness of Mine in this. I too am bound by the bond of the drama. By telling you this wonderful secret, it is as though the Father has reduced the importance of His part.
Song: At last that day for which we had been waiting has come!

Om shanti. Sweetest, spiritual children are singing this song. You children understand that the Father comes after a cycle to make us healthy and wealthy once again and to give us our inheritance of purity, peace and happiness. Those brahmins too give blessings: May you have a long life! May you be wealthy! May you have many children! You children are receiving the inheritance, so it is not a question of blessings. You children are studying. You know that 5000 years ago too, the Father changed you from humans into deities, from ordinary humans into Narayan, by giving you teachings. Children who study know what they are studying and who their teacher is. They also know that, numberwise, according to the efforts they make. You children would say that you know that the kingdom is being established, that is, the deity kingdom is being established; the original, eternal, deity religion is being established. Previously, we were shudras and we have now become Brahmins and we will then become deities. No one in the world knows that they now belong to the shudra clan. You children know that this is true. The Father tells you the truth and is establishing the land of truth. There are no lies or sin, etc. in the golden age. It is only in the iron age that there are sinful souls, such as Ajamil. At this time it is the extreme depths of hell. Day by day, the extreme depths of hell will become visible. Human beings perform such actions that you can understand that the world is becoming more and more tamopradhan every day. Lust is the greatest enemy in this respect. Hardly anyone is able to remain pure. In the early days, fakirs (religious ascetics) used to say: The iron age will be such that girls who are only 12 and 13 years old will give birth to children. That time is now. Kumars and kumaris all continue to perform dirty actions. The Father says: It is when everyone has become completely tamopradhan that I come. I too have a part in the drama. I too am bound by the bond of the drama. This is nothing new for you children. The Father explains in this way. You go around the cycle, and the drama then comes to an end. Now remember the Father and you will become satopradhan and the masters of the satopradhan world. He explains to you in such an ordinary way. The Father doesn’t give that much importance to His own part. This is My part; it is not anything new. I have to come every 5000 years. I too am bound by the drama. I come and show you children how you can have such an easy pilgrimage of remembrance. It is of this time that it is said: Your final thoughts will lead you to your final destination. This is the final period. The Father shows you the method: Constantly remember Me alone and you will become satopradhan. You children also understand that you will become the masters of the new world. The Father repeatedly says: This is nothing new. They tell the story of a genie; he said that he wanted to do some work and so he was told to go up and down a ladder. The Father says: This too is a play about ascending and descending. You have to become pure from impure and impure from pure. This is not difficult. It is very easy, but what do you have to battle with? Because they don’t understand this, they have mentioned a war in the scriptures. In fact, it is a very big war to conquer Maya, Ravan. You children see that you remember the Father again and again and that your remembrance breaks. Maya extinguishes the flame. There is the story of Gul-Bakavli based on this (where a cat comes and knocks over a lamp). You children gain victory. Some may be progressing very well, but then Maya comes and extinguishes the lamp. Children say: Baba, many storms of Maya come. Many types of storm come to the children. Sometimes, such storms come so forcefully that even some very good trees that are eight to ten years old fall. You children know this and you also speak of how some who were very good beads of the rosary are not here today. There is also the example of the crocodile that ate the elephant. That is a storm of Maya. The Father says: Continue to be cautious about the five vices. If you stay in remembrance you will become strong. Become soul conscious. Only once do you receive these teachings from the Father. No one else will tell you to become soul conscious. Even in the golden age no one will say this. You do remember your name, form, land and time period. At this time I explain to you that you now have to return home. You were satopradhan at first. You have taken the full 84 births in the sato, rajo and tamo stages. In that too, Brahma is number one. For others, it can be just 83 births, but for this one, it is the full 84 births. At first, this one was Shri Narayan. To say something about this one means to refer to everyone else too: he takes this knowledge at the end of his many births and then becomes Narayan. In the picture of the tree, he is shown as Shri Narayan at the beginning and then as Brahma at the end. Down below, he is studying Raj Yoga. The Father of People can never be called the Supreme Father. Only the One can be called the Supreme Father. This one is called the Father of People (Prajapita). This one is a bodily being whereas that One is bodiless, without an image. A physical father is called a father and this one is called the Father of People. That Supreme Father resides in the supreme abode. You wouldn’t say that the Father of People resides in the supreme abode. He exists here in the corporeal world. He doesn’t even exist in the subtle region. It is in the corporeal world that people exist. The Father of People cannot be called God. God doesn’t have a bodily name. He is separate from human bodies that are given names. When souls live there, they are beyond physical names and forms. However, they are souls. Sages and holy men don’t know anything. Those people simply leave their households, but they are experienced in the vices of the world. Little children are completely unaware of those; this is why they are called great souls. They don’t know anything of the five vices. A small child is said to be pure. At this time, no one is said to be a pure soul. They grow from young to old, but they are still said to be impure. The Father explains: Each one has his own separate part recorded in the drama. However many bodies you take in this cycle and however many actions you perform, they are all repeated. First of all, you have to recognize souls. An imperishable part of 84 births is recorded in such a tiny soul. This is the most wonderful aspect. Souls are imperishable and the drama too is imperishable; it is predestined. You cannot ask when it began. It is said to be nature. No one can do anything about what a soul is like or how the drama is created. Just as there cannot be an end to the ocean or the sky, so too, this is the imperishable drama. It is such a wonder! Just as Baba is wonderful, this knowledge is also wonderful. No one else can give you this knowledge. So many actors have all been playing their own parts. The question of when the play was created cannot arise. Many ask: What was it to God that He sat and created a world of happiness and sorrow? However, it is eternal. There is no annihilation. It is predestined and so you cannot ask why it was created. It is only when you are able to understand the knowledge of souls that the Father gives it to you. You continue to progress day by day. In the beginning Baba used to explain very little to you. They were wonderful things, and they also had an attraction that pulled you. There was also the attraction of the bhatthi. In the scriptures, it has been shown that Krishna was taken away from the land of Kans. You now know that there was no such devil as Kans, etc. there. The Gita, the Bhagawad and the Mahabharata etc. are all connected, but there is nothing in them. They believe that Dashera (burning of the effigy of Ravan) has continued from time immemorial. No one knows what Ravan is. The deities all continued to become impure as they came down. They are the ones who called out a great deal because they had become impure. This is why they call out: O Purifier! Only the Father sits and explains all these things. No one else knows the beginning, the middle or the end of the world cycle. You know that you become the rulers of the globe by becoming this. It has been written on the Trimurti: This is your Godfatherly birthright. It is said: Establishment through Brahma, destruction through Shankar and sustenance through Vishnu. Destruction also definitely has to take place. There are very few in the new world. There are now innumerable religions. They understand that the one original, eternal, deity religion no longer exists. So, that one religion is definitely needed. The Mahabharata is connected with the Gita. This cycle continues to turn; it cannot stop for even a second. It is not anything new; you have claimed the kingdom many times. Those who are fully content remain very mature and serious. They understand internally that they have claimed the kingdom many times and that it is only a matter of yesterday when they last claimed their kingdom. Yesterday, we were deities and, having gone round the cycle, we have now become impure and we are now claiming the sovereignty of the world with the power of yoga. The Father says: You claim the sovereignty of the world every cycle. There cannot be even the slightest difference. Some claim a low status in the kingdom and some a high status. That is the result of the efforts you make. You know that you were previously worse than monkeys. The Father is now making you worthy of sitting in a temple. The souls of the good children realize that they truly were of no use and that they are now becoming worth a pound. Every cycle, the Father makes us worth a pound from being worth pennies. Only those of the previous cycle will be able to understand these things very well. When you hold exhibitions etc., that is nothing new. It is by holding those that you establish the land of immortality. There are so many temples to the goddesses on the path of devotion. All of those are the paraphernalia of being worshippers. There is no paraphernalia of being worthy of worship. The Father says: Day by day, I explain very deep points to you. You have so many points from the early days. What will you do with those now? They will be left just like that. At present BapDada continues to explain new points. Each soul is such a tiny point and has all of his part recorded in him. This point is not in the notebooks of your early days. So, what will you do with the old points now? It is only the result at the end that will be useful. The Father says: I spoke this to you in the same way in the previous cycle too. You continue to study, numberwise. There may be fluctuation in some subjects. There are bad omens in business too; you mustn’t have heart failure over that. You should get back on your feet and make effort. Some people go bankrupt and yet they start some other business and become very wealthy. Here, too, even when someone falls into vice, the Father says: Make effort very well and claim a high status. You should start climbing up again. The Father says: You have fallen and so you now have to climb up. There are many who fall and then try to climb up again. Baba doesn’t forbid you. The Father knows that many such souls will come. The Father will say: Make effort. They will at least become helpers to some extent. It would be said to be according to the drama plan. The Father would say: OK child, are you now satisfied? You floundered a great deal, now make effort once again. The unlimited Father would say this, would He not? So many come to meet Baba. I tell them: Will you not listen to the unlimited Father? Will you not become pure? The Father considers Himself to be a soul and speaks to souls, and so the arrow definitely strikes the target. For instance, when a woman is struck by the arrow, she says: I will make this promise. The husband may not be struck by the arrow. Then, as she progresses, she would try to uplift him as well. There are many such men whose wives have brought them into knowledge. Each would say that his wife is his guru. When those brahmins tie them in bondage to one another they tell the bride that her husband is her god. Here, the Father says: The one Father is everything for you. Mine is One and none other. Everyone remembers Him. You have to have yoga with that One. Even this body is not mine. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. When there are any bad omens, do not become disheartened and just sit down. Make effort once again and claim a high status by staying in remembrance of the Father.
  2. Make your stage so strong with remembrance that no storms of Maya can attack you. Continue to protect yourself from the vices.
Blessing: May you become an example who experiences the stage of being free from bondage by performing every action while trikaldarshi and a detached observer.
If you perform actions while stable in the trikaldarshi stage and know the beginning, middle and end of every action, then none of your actions will become sinful; they will always be pure actions. In the same way, while perform actions as a detached observer, you will not become a soul in karmic bondage while doing everything. Because the fruit of actions is elevated, you will form relationships through actions, not bondages. While doing everything remain detached and loving and you will become an example in front of many souls.
Slogan: Those whose minds are always content remain double light.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

05-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अब घर जाना है इसलिए देही-अभिमानी बनो, एक बाप को याद करो तो अन्त मति सो गति हो जायेगी”
प्रश्नः- वण्डरफुल बाप ने तुम्हें कौन सा एक वण्डरफुल राज़ सुनाया है?
उत्तर:- बाबा कहते – बच्चे, यह अनादि अविनाशी ड्रामा बना हुआ है, इसमें हर एक का पार्ट नूंधा हुआ है। कुछ भी होता है नथिंग न्यु। बाप कहते हैं बच्चे इसमें मेरी भी कोई बड़ाई नहीं, मैं भी ड्रामा के बंधन में बांधा हुआ हूँ। यह वण्डरफुल राज़ सुनाकर बाप ने जैसे अपने पार्ट का महत्व कम कर दिया है।
गीत:- आखिर वह दिन आया आज……..

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे यह गीत गा रहे हैं। बच्चे समझते हैं कि कल्प बाद फिर से हमको धनवान, हेल्दी और वेल्दी बनाने, पवित्रता, सुख, शान्ति का वर्सा देने बाप आते हैं। ब्राह्मण लोग भी आशीर्वाद देते हैं ना कि आयुश्वान भव, धनवान भव, पुत्रवान भव। तुम बच्चों को तो वर्सा मिल रहा है, आशीर्वाद की कोई बात नहीं है। बच्चे पढ़ रहे हैं। जानते हैं 5 हज़ार वर्ष पहले भी हमको बाप ने आकर मनुष्य से देवता, नर से नारायण बनने की शिक्षा दी थी। बच्चे जो पढ़ते हैं, वह जानते हैं हम क्या पढ़ रहे हैं। पढ़ाने वाला कौन है? उनमें भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार जानते हैं। यह तो कहेंगे ही कि हम बच्चों को मालूम है – यह राजधानी स्थापन हो रही है वा डीटी किंगडम स्थापन हो रही है। आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है। पहले शूद्र थे फिर ब्राह्मण बने फिर देवता बनना है। दुनिया में किसी को यह पता नहीं है कि अभी हम शूद्र वर्ण के हैं। तुम बच्चे समझते हो यह तो सत्य बात है। बाप सत्य बताकर, सचखण्ड की स्थापना कर रहे हैं। सतयुग में झूठ, पाप आदि कुछ भी नहीं होता। कलियुग में ही अजामिल, पाप आत्मायें होती हैं। यह समय बिल्कुल रौरव नर्क का ही है। दिन-प्रतिदिन रौरव नर्क दिखाई पड़ेगा। मनुष्य ऐसा-ऐसा कर्तव्य करते रहेंगे जो समझेंगे बिल्कुल ही तमोप्रधान दुनिया बनती जा रही है। इसमें भी काम महाशत्रु है। कोई मुश्किल पवित्र शुद्ध रह सकता है। आगे जंगम (फकीर) लोग कहते थे – ऐसा कलियुग आयेगा जो 12-13 वर्ष की कुमारियाँ बच्चा पैदा करेंगी। अब वह समय है। कुमार-कुमारियाँ आदि सब गंद करते रहते हैं। जब बिल्कुल ही तमोप्रधान बन जाते हैं तब बाप कहते हैं मैं आता हूँ, मेरा भी ड्रामा में पार्ट है। मैं भी ड्रामा के बंधन में बंधा हुआ हूँ। तुम बच्चों के लिए कोई नई बात नहीं है। बाप समझाते ही ऐसे हैं। चक्र लगाया, नाटक पूरा होता है। अब बाप को याद करो तो तुम सतोप्रधान बन, सतो प्रधान दुनिया के मालिक बन जायेंगे। कितना साधारण रीति समझाते हैं। बाप कोई अपने पार्ट को इतना महत्व नहीं देते हैं। यह तो मेरा पार्ट है, नई बात नहीं। हर 5 हज़ार वर्ष बाद मुझे आना पड़ता है। ड्रामा में मैं बंधायमान हूँ। आकर तुम बच्चों को बहुत सहज याद की यात्रा बताता हूँ। अन्त मति सो गति… वह इस समय के लिए ही कहा गया है। यह अन्तकाल है ना। बाप युक्ति बताते हैं – मामेकम् याद करो तो सतोप्रधान बन जायेंगे। बच्चे भी समझते हैं हम नई दुनिया के मालिक बनेंगे। बाप घड़ी-घड़ी कहते हैं नथिंग न्यु। एक जिन्न की कहानी सुनाते हैं ना – उसने कहा काम दो, तो कहा सीढ़ी उतरो और चढ़ो। बाप भी कहते हैं यह खेल भी उतरने और चढ़ने का है। पतित से पावन, पावन से पतित बनना है। यह कोई डिफीकल्ट बात नहीं है। है बहुत सहज, परन्तु युद्ध कौन सी है, यह न समझने के कारण शास्त्रों में लड़ाई की बात लिख दी है। वास्तव में माया रावण पर जीत पाना तो बहुत बड़ी लड़ाई है। बच्चे देखते हैं हम घड़ी-घड़ी बाप को याद करते हैं, फिर याद टूट जाती है। माया दीवा बुझा देती है। इस पर गुलबकावली की भी कहानी है। बच्चे जीत पाते हैं। बहुत अच्छे चलते हैं फिर माया आकर दीवा बुझा देती है। बच्चे भी कहते हैं बाबा माया के तूफान तो बहुत आते हैं। तूफान भी अनेक प्रकार के बच्चों के पास आते हैं। कभी-कभी तो ऐसा तूफान ज़ोर से आता है जो 8-10 वर्ष के पुराने अच्छे-अच्छे झाड़ भी गिर पड़ते हैं। बच्चे जानते हैं, वर्णन भी करते हैं। अच्छे-अच्छे माला के दाने थे। आज हैं ही नहीं। यह भी मिसाल है, गज़ को ग्राह ने खाया। यह है माया का तूफान।

बाप कहते हैं इन 5 विकारों से सम्भाल रखते रहो। याद में रहेंगे तो मजबूत हो जायेंगे। देही-अभिमानी बनो। यह शिक्षा बाप की एक ही बार मिलती है। ऐसा कभी और कोई कहेंगे नहीं कि तुम आत्म-अभिमानी बनो। सतयुग में भी ऐसा नहीं कहेंगे। नाम, रूप, देश, काल सब याद रहता ही है। इस समय तुमको समझाता हूँ – अब वापिस घर जाना है। तुम पहले सतोप्रधान थे, सतो-रजो-तमो में तुमने पूरे 84 जन्म लिए हैं। उसमें भी नम्बरवन यह (ब्रह्मा) है। औरों के 83 जन्म भी हो सकते हैं इनके लिए पूरे 84 जन्म हैं। यह पहले-पहले श्री नारायण थे। इनके लिए कहते गोया सबके लिए समझ जाते, बहुत जन्मों के अन्त में ज्ञान लेकर फिर वह नारायण बनते हैं। झाड़ में भी दिखाया है ना – यहाँ श्री नारायण और पिछाड़ी में ब्रह्मा खड़ा है। नीचे राजयोग सीख रहे हैं। प्रजापिता को कभी परमपिता नहीं कहेंगे। परमपिता एक को कहा जाता है। प्रजापिता फिर इनको कहा जाता। यह देहधारी है, वह विदेही, विचित्र है। लौकिक बाप को पिता कहेंगे, इनको प्रजापिता कहेंगे। वह परमपिता तो परमधाम में रहते हैं। प्रजापिता ब्रह्मा परमधाम में नहीं कहेंगे। वह तो यहाँ साकारी दुनिया में हो गया। सूक्ष्मवतन में भी नहीं है। प्रजा तो है स्थूल-वतन में। प्रजापिता को भगवान नहीं कहा जाता है। भगवान का कोई शरीर का नाम नहीं। मनुष्य तन जिस पर नाम पड़ते हैं, उनसे वह न्यारा है। आत्मायें वहाँ रहती हैं तो स्थूल नाम-रूप से न्यारी हैं। परन्तु आत्मा तो है ना। साधू-सन्त आदि कुछ भी नहीं जानते। वो लोग सिर्फ घरबार छोड़ते हैं। बाकी दुनिया के विकारों के अनुभवी तो हैं ना। छोटे बच्चे को कुछ भी पता नहीं रहता है इसलिए उनको महात्मा कहा जाता है। 5 विकारों का उनको पता ही नहीं रहता। छोटे बच्चे को पवित्र कहा जाता है। इस समय तो कोई पवित्र आत्मा हो नहीं सकती। छोटे से बड़ा होगा फिर भी पतित तो कहेंगे ना। बाप समझाते हैं सबका अलग-अलग पार्ट इस ड्रामा में नूंधा है। इस चक्र में कितने शरीर लेते हैं, कितने कर्म करते हैं, जो सब फिर रिपीट होना है। पहले-पहले आत्मा को पहचानना है। इतनी छोटी आत्मा में 84 जन्मों का अविनाशी पार्ट भरा हुआ है। यही है सबसे वण्डरफुल बात। आत्मा भी अविनाशी है। ड्रामा भी अविनाशी है, बना-बनाया है। ऐसे नहीं कहेंगे कब से शुरू हुआ। कुदरत कहते हैं ना। आत्मा कैसी है, यह ड्रामा कैसे बना हुआ है, इसमें कोई कुछ भी कर नहीं सकता। जैसे समुद्र अथवा आकाश का अन्त नहीं निकाल सकते। यह अविनाशी ड्रामा है। कितना वण्डर लगता है। जैसे बाबा वण्डरफुल वैसे ज्ञान भी बड़ा वण्डरफुल है। कभी कोई बता न सके। इतने सब एक्टर्स अपना-अपना पार्ट बजाते ही आते हैं। नाटक कब बना, यह कोई प्रश्न उठा नहीं सकता। बहुत कहते हैं भगवान को क्या पड़ी थी जो दु:ख सुख की दुनिया बैठ बनाई। अरे यह तो अनादि है। प्रलय आदि होती नहीं। बनी-बनाई है, ऐसे थोड़ेही कह सकते यह क्यों बनाई! आत्मा का ज्ञान भी बाप तुमको तब सुनाते हैं जब समझदार बनते हो। तो तुम दिन-प्रतिदिन उन्नति को पाते रहते हो। पहले-पहले तो बाबा बहुत थोड़ा-थोड़ा सुनाता था। वण्डरफुल बातें थी फिर भी कशिश तो थी ना। उसने खींचा। भट्ठी की भी कशिश थी। शास्त्रों में फिर दिखाया है कृष्ण को कंसपुरी से निकाल ले गये। अब तुम जानते हो कंस आदि तो वहाँ होते ही नहीं। गीता भागवत, महाभारत यह सब कनेक्शन रखते हैं, हैं तो कुछ भी नहीं। समझते हैं यह दशहरा आदि तो परम्परा से चला आता है। रावण क्या चीज़ है, यह भी कोई जानते नहीं। जो भी देवी-देवता थे वह नीचे उतरते-उतरते पतित बन गये हैं। रड़ियाँ भी वह मारते हैं जो जास्ती पतित बने हैं इसलिए पुकारते भी हैं हे पतित-पावन। यह सब बातें बाप ही बैठ समझाते हैं। सृष्टि चक्र के आदि-मध्य-अन्त को और कोई नहीं जानते। तुम जानने से चक्रवर्ती राजा बन जाते हो। त्रिमूर्ति में लिखा हुआ है – यह तुम्हारा ईश्वरीय जन्म सिद्ध अधिकार है। ब्रह्मा द्वारा स्थापना, शंकर द्वारा विनाश, विष्णु द्वारा पालना….. विनाश भी जरूर होना है। नई दुनिया में बहुत थोड़े होते हैं। अभी तो अनेक धर्म हैं। समझते हैं एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म है नहीं। फिर जरूर वह एक धर्म चाहिए, महाभारत भी गीता से सबंध रखती है। यह चक्र फिरता रहता है। एक सेकेण्ड भी बन्द नहीं हो सकता। कोई नई बात नहीं है, बहुत बारी राजाई ली है, जिसका पेट भरा हुआ होता है, वह गम्भीर रहते हैं। अन्दर में समझते हो हमने कितना बार राजाई ली थी, कल की ही बात है। कल ही देवी-देवता थे फिर चक्र लगाए आज हम पतित बने हैं फिर हम योगबल से विश्व की बादशाही लेते हैं। बाप कहते हैं कल्प-कल्प तुम ही बादशाही लेते हो। ज़रा भी फर्क नहीं पड़ सकता। राजाई में कोई कम, कोई ऊंच बनेंगे। यह पुरुषार्थ से ही होता है।

तुम जानते हो पहले हम बन्दर से भी बदतर थे। अब बाप मन्दिर लायक बना रहे हैं। जो अच्छे-अच्छे बच्चे हैं उनकी आत्मा रियलाइज करती है, बरोबर हम तो कोई काम के नहीं थे। अभी हम वर्थ पाउण्ड बन रहे हैं। कल्प-कल्प बाप हमको पेनी से पाउण्ड बनाते हैं। कल्प पहले वाले ही इन बातों को अच्छी रीति समझेंगे। तुम भी प्रदर्शनी आदि करते हो, नथिंग न्यु। इन द्वारा ही तुम अमरपुरी की स्थापना कर रहे हो। भक्ति मार्ग में देवियों आदि के कितने मंदिर हैं। यह सब है पुजारीपने की सामग्री। पूज्यपने की सामग्री कुछ भी नहीं है। बाप कहते हैं दिन-प्रतिदिन तुमको गुह्य प्वाइंट्स समझाते रहते हैं। आगे की ढेर प्वाइंट्स तुम्हारे पास रखी हैं। वह अभी क्या करेंगे। ऐसे ही पड़ी रहती हैं। प्रेजन्ट तो बापदादा नई-नई प्वाइंट समझाते रहते हैं। आत्मा इतनी छोटी सी बिंदी है, उनमें सारा पार्ट भरा हुआ है। यह प्वाइंट कोई आगे वाली कापियों में थोड़ेही होंगी। फिर पुरानी प्वाइंट्स को तुम क्या करेंगे। पिछाड़ी की रिजल्ट ही काम आती है। बाप कहते हैं कल्प पहले भी तुमको ऐसे ही सुनाया था। नम्बरवार पढ़ते रहते हैं। कोई सब्जेक्ट में नीचे ऊपर होते रहते हैं। व्यापार में भी ग्रहचारी बैठती है, इसमें हार्टफेल नहीं होना होता है। फिर उठकर पुरुषार्थ किया जाता है। मनुष्य देवाला निकालते हैं फिर धंधा आदि कर बहुत धनवान बन जाते हैं। यहाँ भी कोई विकार में गिर पड़ते हैं फिर भी बाप कहेंगे अच्छी रीति पुरुषार्थ कर ऊंच पद पाओ। फिर से चढ़ना शुरू करना चाहिए। बाप कहते हैं गिरे हो फिर चढ़ो। ऐसे बहुत हैं, गिरते हैं तो फिर चढ़ने की कोशिश करते हैं। बाबा मना थोड़ेही करेंगे। बाप जानते हैं ऐसे भी बहुत आयेंगे। बाप कहेंगे पुरुषार्थ करो। फिर भी कुछ न कुछ मददगार तो बन जायेंगे ना। ड्रामा प्लैन अनुसार ही कहेंगे। बाप कहेंगे – अच्छा बच्चे, अब तृप्त हुए, बहुत गोते खाये अब फिर से पुरुषार्थ करो। बेहद का बाप तो ऐसे कहेंगे ना। बाबा के पास कितने आते हैं मिलने। कहता हूँ बेहद के बाप का कहना नहीं मानेंगे, पवित्र नहीं बनेंगे! बाप आत्मा समझ आत्मा को कहते हैं तो तीर जरूर लगेगा। समझो स्त्री को तीर लग जाता है तो कहेंगे हम तो प्रतिज्ञा करते हैं। पुरुष को नहीं लगता है। फिर आगे चल उनको भी चढ़ाने की कोशिश करेंगे। फिर ऐसे भी बहुत आते हैं, जिनको स्त्री ज्ञान में ले आती है। तो कहते हैं स्त्री हमारा गुरू है। वह ब्राह्मण लोग हथियाला बांधने समय कहते हैं यह तुम्हारा गुरू ईश्वर है। यहाँ बाप कहते हैं तुम्हारा एक ही बाप सब कुछ है। मेरा तो एक दूसरा न कोई। सब उनको ही याद करते हैं। उस एक से ही योग लगाना है। यह देह भी मेरी नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कोई भी ग्रहचारी आती है तो दिलशिकस्त हो बैठ नहीं जाना है। फिर से पुरुषार्थ कर, बाप की याद में रह ऊंच पद पाना है।

2) स्वयं की स्थिति याद से ऐसी मजबूत बनानी है जो कोई भी माया का तूफान वार न कर सके। विकारों से अपनी सम्भाल करते रहना है।

वरदान:- त्रिकालदर्शी और साक्षी दृष्टा बन हर कर्म करते बन्धनमुक्त स्थिति के अनुभव द्वारा दृष्टान्त रूप भव
यदि त्रिकालदर्शी स्टेज पर स्थित हो, कर्म के आदि मध्य अन्त को जानकर कर्म करते हो तो कोई भी कर्म विकर्म नहीं हो सकता है, सदा सुकर्म होगा। ऐसे ही साक्षी दृष्टा बन कर्म करने से कोई भी कर्म के बन्धन में कर्म बन्धनी आत्मा नहीं बनेंगे। कर्म का फल श्रेष्ठ होने के कारण कर्म सम्बन्ध में आयेंगे, बन्धन में नहीं। कर्म करते न्यारे और प्यारे रहेंगे तो अनेक आत्माओं के सामने दृष्टान्त रूप अर्थात् एक्जैम्पल बन जायेंगे।
स्लोगन:- जो मन से सदा सन्तुष्ट है वही डबल लाइट है।

TODAY MURLI 5 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 5 December 2019

05/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remember your aim and the Father, the One who gives you your aim, and you will imbibe divine virtues. To cause anyone sorrow and to defame anyone are devilish traits.
Question: What indicates the Father having the highest love for you children?
Answer: The sweet teachings that you receive from the Father are the indication of His highest love for you. The Father’s first teaching is: Sweet children, do not do anything wrong by going against shrimat. You are students and you must not take the law into your own hands. Always allow jewels, not stones, to emerge from your lips.

Om shanti. The Father sits here and explains to you children. You can now see them (Lakshmi and Narayan) very clearly. That is your aim and objective, that is, you belonged to their clan. There is the difference of day and night. This is why you repeatedly have to look at them and think: We have to become like them. You know their praise very well. You will be happy by keeping a picture of them in your pocket. The confusion that is inside you should not be there; that is also called body consciousness. If you look at Lakshmi and Narayan in soul consciousness, you can understand that you are becoming like them. Therefore, you definitely have to look at them. The Father explains that you have to become like them. Become “Madhyajibhav”; look at them and have remembrance. There is the example of someone who was told to think he was a buffalo, and so he started to believe that he was a buffalo. You understand that your aim and objective is to become that (Lakshmi and Narayan). How will you become that? By having remembrance of the Father. Each one of you should ask yourself: Do I really look at them and remember the Father? You do understand that Baba is making you into deities. To whatever extent possible, remember the Father. The Father says that you cannot stay in remembrance constantly, but you do have to make effort. If you remember Lakshmi and Narayan whilst doing your housework, you would also definitely remember the Father. If you remember the Father, you would also definitely remember them and think that you want to become like them. You should be concerned with this throughout the whole day, and you will then never defame one another. “This one is like this; so-and-so is like that”. Those who get caught up in those matters cannot claim a high status, and so they remain as they are. It has been explained to you in such an easy way to remember them. Remember the Father and you will become like them. Here, you are sitting in front of Him. There should definitely be this picture of Lakshmi and Narayan in everyone’s home. It is such an accurate picture. When you remember them, you will remember Baba. Instead of talking about other things, continue to talk about these things throughout the day. To defame someone and say that so-and-so is like this means to cause conflict. You have to make your intellects divine. You should not have any nature of hurting others or of defaming anyone or of misbehaving. You have been doing that for half a cycle. You children now receive such sweet teachings. There is no love higher than this. You should not perform any bad acts by disobeying shrimat. The Father also gives directions about the subject of trance: Simply offer bhog and come back. Baba does not tell you to go to Paradise and dance etc. If you go anywhere else, it is understood that Maya has entered you. The number one task of Maya is to make you impure. There is a lot of damage caused by behaving against the law. If you are not careful, it is possible that you will have to endure severe punishment. Dharamraj is also with the Father. He keeps unlimited accounts with Him of how many years you have been experiencing punishment in Ravan’sjail. There is so much sorrow in this world. The Father says: Now forget all other things and remember the one Father. Remove all the confusion from within you. Who takes you into vice? The evil spirit of Maya. This is Raj Yoga. This is your aim and objective. By remembering the Father, you will claim your inheritance. Therefore, you should become occupied in this business. You should remove all the rubbish from within you. The influence of Maya is very strong. However, you also have to continue to chase her away. To whatever extent possible, stay on the pilgrimage of remembrance. Your remembrance now cannot remain constant. Only when you reach the stage of remaining in constant remembrance will you claim a high status. However, if you still have confusion inside you and have bad thoughts, you cannot claim a high status. It is when you are influenced by Maya that you become defeated. The Father explains: Children, do not become defeated by performing dirty acts. It was by defaming others that you have now reached such a bad state. Now that you are receiving salvation, you must not perform any bad acts. Baba sees that Maya has swallowed you up to your necks and that you don’t even realise it. You think that you are progressing very well, but you are not. The Father explains: Let only jewels emerge in your thoughts, words and deeds. To talk of dirty things is like throwing stones. You are now changing from stones and becoming divine, and so no stones should emerge from your lips. Baba has to explain to you. The Father has the right to explain to you. It is not that a brother will caution a brother. It is the Teacher’s task to teach you. He can say anything to you. Students should not take the law into their own hands. You are students. The Father can explain to you. However, you children have received the Father’s directions to remember the one Father. Your fortune has now opened. By not following shrimat, you spoil your fortune and you will then have to repent a great deal. By not following the Father’s shrimat, firstly you will have to experience punishment and secondly, your status will be destroyed. This is a deal for birth after birth, cycle after cycle. The Father comes and teaches you, and so it should remain in your intellects that Baba is your Teacher who gives this new knowledge: Consider yourselves to be souls. It is said that a meeting takes place between souls and the Supreme Soul. We will meet again after 5000 years. You can take as much inheritance here as you want to. Otherwise, you will have to repent a great deal; you will cry. You will have visions of everything. When children are transferred at school, everyone looks at those who sit at the back. Here, too, you are to be transferred. You understand that you will leave your bodies here and go to the college for princes in the golden age and learn the language. There, everyone has to learn the language, the mother language. There are many who don’t understand this knowledge fully and so they don’t study regularly. If you miss it once or twice, you then develop the habit of missing it. You would then take the company of those who are enslaved by Maya. There are very few followers of Shiv Baba; all the rest are followers of Maya. Maya is not able to tolerate it when you become a follower of Shiv Baba. This is why you have to be very cautious. You have to remain very cautious of dirty human beings. There are swans and storks. Baba gave you teachings last night: To defame someone or other throughout the day, to think about others is not called having divine virtues. Deities do not behave in such a way. The Father says: Remember the Father and the inheritance. However, you still continue to defame others. You have been defaming others for birth after birth. There is confusion within. This is also like battling within. You kill yourself for no reason. You cause a loss for many. “So-and-so is like this”. What does that matter to you? The one Father is the Support for all. You now have to follow shrimat. Human dictates make you very dirty. They continue to defame one another. To defame someone is to have an evil spirit of Maya. This world is impure. You understand that you are now becoming pure from impure. Those are very bad defects. It has been explained to you that, from today, you must pull your own ears so that you never perform such acts again. If you see anyone doing anything wrong, you should report it to Baba. What has it got to do with you? Why do you defame one another? The Father hears about everything. The Father has taken these eyes and ears on loan. The Father sees and so does this Dada. The behaviour of some and the atmosphere they create are completely unlawful. Those who don’t have a father are called orphans. Some neither know the Father nor remember Him. Instead of reforming themselves, they become even worse; this is why they lose their status. If you do not follow shrimat you are an orphan. They do not follow the shrimat of the Mother and Father. It is said: You are the Mother and Father. He also becomes the Friend. However, if there is no great-great-grandfather, how can there be the Mother? They don’t even have that much sense! Maya turns your intellects completely away. If you do not obey the unlimited Father’s instructions, there is going to be punishment and no salvation. When the Father sees them behave as they do, He says: What is going to become of those souls? This one is a wild flower. This one is an uck flower whom no one likes. Therefore, reform yourselves! Otherwise, your status will be destroyed. There will be a loss for birth after birth. However, this does not sit in the intellects of those who are body conscious. Only those who are soul conscious are able to love the Father. To surrender yourself to the Father is not like going to your aunty’s home! Eminent people cannot surrender themselves. They do not even understand the meaning of “surrender”. Their hearts shrink. There are many who are free from bondage; they have no children etc. They say: Baba, You are everything for us! Although they say this with their lips, it’s not the truth. They even tell lies to the Father. To surrender yourself means to remove your attachment. It is now the end, so you have to follow shrimat. You have to remove your attachment from your property etc. There are many who are free from such bondage. You have made Shiv Baba belong to you; you have adopted Him. This is your Father, Teacher and Satguru. You make Him belong to you in order to claim all His property. Those who become Baba’s children will definitely become part of the deity clan. However, there are many different levels of status. There will be many maids and servants. Some give orders to one another. Maids and servants are also numberwise. The maids and servants from outside will not enter the palace of the royal family. Those who belong to the Father will become that. There are some children who don’t have sense worth a penny. Baba does not say: Remember Mama, or remember My chariot. The Father says: Remember Me alone. Renounce all your relationships with bodily beings and consider yourselves to be souls. The Father explains that if you want to love someone, then only love the One and your boat will go across. Follow the Father’s directions. There is a story about a king who conquered attachment. Children are considered to be first and so the son becomes the heir to the property. The wife is a half-partner whereas the son becomes the full master. Therefore, the intellect goes in that direction. If you make Baba your full Master, He will give all of this to you. It is not a question of give and take; it is a matter of understanding. Although you listen to everything, you forget it all the next day. If it stayed in your intellects, you would also be able to explain to others. By remembering the Father you will become the masters of heaven. This is very easy. Continue to use your mouth and tell others your aim and objective. Those with deep and subtle intellects will understand very quickly. These pictures etc. will be very useful at the end. All the knowledge is contained within them. What is the relationship between Lakshmi and Narayan and Radhe and Krishna? No one knows this. Lakshmi and Narayan were definitely a prince and princess at first. It is said: Beggar to prince, not beggar to king. After becoming a prince that one becomes a king. This is very easy. However, Maya catches hold of some. Many have the habit of defaming others and gossiping; they do not have anything else to do. They never remember the Father. They only continue to do the business of defaming one another. This is the lesson that Maya teaches them. The lesson the Father teaches is very straightforward. At the end, those sannyasis etc. will wake up and say that only the BKs have knowledge. Kumars and kumaris are pure anyway. You are the children of the Father of Humanity. You should not have any bad thoughts. Many still have bad thoughts. The punishment for that is very severe. The Father explains to you a great deal. If it is seen that you behave badly here, so you will not be able to stay here. You will also be given some punishment; you are not worthy and are cheating the Father. You will not be able to remember the Father. Your stage falls completely. Your fallen stage is your punishment. By not following shrimat you destroy your own status. When you don’t follow the Father’s directions, evil spirits enter you even more. Baba sometimes thinks that your severe punishment might even begin now. Punishment is also very incognito. There shouldn’t have to be severe suffering. Many fall and experience punishment. The Father explains everything with a signal. Many cross out their fortune so much. This is why the Father cautions you. Now is not the time to make mistakes. Reform yourselves. There isn’t that much time left before the final hour. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You must not behave in any unlawful way against shrimat. You have to reform yourself. Be cautious of dirty human beings.
  2. If you are free from bondage, surrender yourself completely. Remove all your attachment. Never defame anyone or gossip about anyone. Liberate yourself from dirty thoughts.
Blessing: May you be an easy and constant yogi who is constantly powerful with the intoxication and faith of having a right to self-sovereignty.
To be a self-sovereign means to have total control over all your physical senses so that your physical senses do not deceive you even in your thoughts. If there is sometimes the slightest body consciousness there is easily then force or anger, but those who are self-sovereigns, masters of themselves, are constantly egoless and they always serve with humility. Therefore, be powerful with the intoxication and faith of being a master of the self, a self-sovereign – Become conqueror of Maya and a conqueror of the world and you will easily become an easy and constant yogi.
Slogan: Be a lighthouse and remain busy in spreading light with your mind and intellect and you will not be afraid of anything.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 December 2019

05-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अपने लक्ष्य और लक्ष्य-दाता बाप को याद करो तो दैवीगुण आ जायेंगे, किसी को दु:ख देना, ग्लानि करना, यह सब आसुरी लक्षण हैं”
प्रश्नः- बाप का तुम बच्चों से बहुत ऊंचा प्यार है, उसकी निशानी क्या है?
उत्तर:- बाप की जो मीठी-मीठी शिक्षायें मिलती हैं, यह शिक्षायें देना ही उनके ऊंचे प्यार की निशानी है। बाप की पहली शिक्षा है – मीठे बच्चे, श्रीमत के बिगर कोई उल्टा-सुल्टा काम नहीं करना, 2. तुम स्टूडेन्ट हो तुम्हें अपने हाथ में कभी भी लॉ नहीं उठाना है। तुम अपने मुख से सदैव रत्न निकालो, पत्थर नहीं।

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। अब इनको (लक्ष्मी-नारायण) तो अच्छी रीति देखते हो। यह है एम ऑब्जेक्ट अर्थात् तुम इस घराने के थे। कितना रात-दिन का फर्क है इसलिए घड़ी-घड़ी इनको देखना है। हमको ऐसा बनना है। इन्हों की महिमा तो अच्छी रीति जानते हो। यह पॉकेट में रखने से ही खुशी रहेगी। अन्दर में दुविधा जो रहती है, वह नहीं रहनी चाहिए, इसको देह-अभिमान कहा जाता है। देही-अभिमानी हो इन लक्ष्मी-नारायण को देखेंगे तो समझेंगे हम ऐसे बन रहे हैं, तो जरूर इनको देखना पड़े। बाप समझाते हैं तुमको ऐसा बनना है। मध्याजी भव, इनको देखो, याद करो। दृष्टान्त बताते हैं ना-उसने सोचा मैं भैंस हूँ तो वह अपने को भैंस ही समझने लगा। तुम जानते हो यह हमारा एम ऑब्जेक्ट है। यह बनने का है। कैसे बनेंगे? बाप की याद से। हर एक अपने से पूछे-बरोबर हम इनको देख बाप को याद कर रहे हैं? यह तो समझते हो कि बाबा हमको देवता बनाते हैं। जितना हो सके याद करना चाहिए। यह तो बाप कहते हैं कि निरन्तर याद रह नहीं सकती। परन्तु पुरूषार्थ करना है। भल गृहस्थ व्यवहार का कार्य करते हुए इनको (लक्ष्मी-नारायण को) याद करेंगे तो बाप जरूर याद आयेगा। बाप को याद करेंगे तो यह जरूर याद पड़ेगा। हमको ऐसा बनना है। यही सारा दिन धुन लगी रहे। तो फिर एक-दो की ग्लानि कभी नहीं करेंगे। यह ऐसा है, फलाना ऐसा है…… जो इन बातों में लग जाते हैं वह ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। ऐसे ही रह जाते हैं। कितना सहज करके समझाया जाता है। इनको याद करो, बाप को याद करो तो तुम यह बन ही जायेंगे। यहाँ तो तुम सामने बैठे हो, सभी के घर में यह लक्ष्मी-नारायण का चित्र जरूर होना चाहिए। कितना एक्यूरेट चित्र है। इनको याद करेंगे तो बाबा याद आयेगा। सारा दिन और बातों के बदले यही सुनाते रहो। फलाना ऐसा है, यह है….. किसकी निंदा करना-इसको दुविधा कहा जाता है। तुम्हें अपनी दैवी बुद्धि बनाना है। किसको दु:ख देना, ग्लानि करना, चंचलता करना-यह स्वभाव नहीं होना चाहिए। इसमें तो आधाकल्प रहे हो। अभी तुम बच्चों को कितनी मीठी शिक्षा मिलती है, इनसे ऊंच प्यार दूसरा कोई होता नहीं। कोई भी उल्टा-सुल्टा काम श्रीमत बिगर नहीं करना चाहिए। बाप ध्यान के लिए भी डायरेक्शन देते हैं सिर्फ भोग लगाकर आओ। बाबा यह तो कहते नहीं कि वैकुण्ठ में जाओ, रास-विलास आदि करो। दूसरी जगह गये तो समझो माया की प्रवेशता हुई। माया का नम्बरवन कर्तव्य है पतित बनाना। बेकायदे चलन से नुकसान बहुत होता है। हो सकता है फिर कड़ी सजायें भी खानी पड़े, अगर अपने को सम्भालेंगे नहीं तो। बाप के साथ-साथ धर्मराज भी है। उनके पास बेहद का हिसाब-किताब रहता है। रावण की जेल में कितना वर्ष सजायें खाई हैं। इस दुनिया में कितना अपार दु:ख है। अभी बाप कहते हैं और सब बातें भूल एक बाप को याद करो और सभी दुविधा अन्दर से निकाल दो। विकार में कौन ले जाते हैं? माया के भूत। तुम्हारा एम ऑब्जेक्ट है ही यह। राजयोग है ना। बाप को याद करने से यह वर्सा मिलेगा। तो इस धन्धे में लग जाना चाहिए। किचड़ा सारा अन्दर से निकाल देना चाहिए। माया की पराकाष्ठा भी बहुत कड़ी है। परन्तु उनको उड़ाते रहना है। जितना हो सके याद की यात्रा में रहना है। अभी तो निरन्तर याद हो न सके। आखरीन निरन्तर तक भी आयेंगे तब ही ऊंच पद पायेंगे। अगर अन्दर दुविधा, खराब ख्यालात होंगे तो ऊंच पद मिल नहीं सकता। माया के वश होकर ही हार खाते हैं।

बाप समझाते हैं – बच्चे, गन्दे काम से हार मत खाओ। निन्दा आदि करते तो तुम्हारी बहुत बुरी गति हो गई है। अभी सद्गति होती है तो बुरे कर्म मत करो। बाबा देखते हैं माया ने गले तक ग्रास (हप) कर लिया है। पता भी नहीं पड़ता है। खुद समझते हैं हम बहुत अच्छा चल रहे हैं, परन्तु नहीं। बाप समझाते हैं-मन्सा, वाचा, कर्मणा मुख से रत्न ही निकलने चाहिए। गन्दी बातें करना पत्थर हैं। अभी तुम पत्थर से पारस बनते हो तो मुख से कभी पत्थर नहीं निकलने चाहिए। बाबा को तो समझाना पड़ता है। बाप का हक है बच्चों को समझाना। ऐसे तो नहीं, भाई भाई को सावधानी देंगे। टीचर का काम है शिक्षा देना। वह कुछ भी कह सकते हैं। स्टूडेन्ट को हाथ में लॉ नहीं उठाना है। तुम स्टूडेन्ट हो ना। बाप समझा सकते हैं, बाकी बच्चों को तो बाप का डायरेक्शन है एक बाप को याद करो। तुम्हारी तकदीर अभी खुली है। श्रीमत पर न चलने से तुम्हारी तकदीर बिगड़ पड़ेगी फिर बहुत पछताना पड़ेगा। बाप की श्रीमत पर न चलने से एक तो सजायें खानी पड़े, दूसरा पद भी भ्रष्ट। जन्म-जन्मान्तर, कल्प-कल्पान्तर की बाजी है। बाप आकर पढ़ाते हैं तो बुद्धि में रहना चाहिए-बाबा हमारा टीचर है, जिनसे यह नई नॉलेज मिलती है कि अपने को आत्मा समझो। आत्मायें और परमात्मा का मेला कहा जाता है ना। 5 हज़ार वर्ष बाद मिलेंगे, इसमें जितना वर्सा लेना चाहो ले सकते हो। नहीं तो बहुत-बहुत पछतायेंगे, रोयेंगे। सब साक्षात्कार हो जायेगा। स्कूल में बच्चे ट्रान्सफर होते हैं तो पिछाड़ी में बैठने वालों को सभी देखते हैं। यहाँ भी ट्रान्सफर होते हैं। तुम जानते हो यहाँ शरीर छोड़कर फिर जाए सतयुग में प्रिन्स के कॉलेज में भाषा सीखेंगे। वहाँ की भाषा तो सभी को पढ़नी पड़ती है, मदर लैंगवेज। बहुतों में पूरा ज्ञान नहीं है फिर पढ़ते भी नहीं हैं रेगुलर। एक-दो बार मिस किया तो आदत पड़ जाती है मिस करने की। संग है माया के मुरीदों का। शिवबाबा के मुरीद थोड़े हैं। बाकी सब हैं माया के मुरीद। तुम शिवबाबा के मुरीद बनते हो तो माया सहन नहीं कर सकती है, इसलिए सम्भाल बहुत करनी चाहिए। छी-छी गन्दे मनुष्यों से बड़ी सम्भाल रखनी है। हंस और बगुले हैं ना। बाबा ने रात को भी शिक्षा दी है, सारा दिन कोई न कोई की निंदा करना, परचिंतन करना, इनको कोई दैवीगुण नहीं कहा जाता है। देवतायें ऐसा काम नहीं करते हैं। बाप कहते हैं बाप और वर्से को याद करो फिर भी निंदा करते रहते हैं। निंदा तो जन्म-जन्मान्तर करते आये हो। दुविधा अन्दर रहती ही है। यह भी अन्दर मारामारी है। मुफ्त अपना खून करते हैं। बहुतों को घाटा डालते हैं। फलाना ऐसा है, इसमें तुम्हारा क्या जाता है। सबका सहायक एक बाप है। अभी तो श्रीमत पर चलना है। मनुष्य मत तो बड़ा गन्दा बना देती है। एक-दो की ग्लानि करते रहते हैं। ग्लानि करना यह है माया का भूत। यह है ही पतित दुनिया। तुम समझते हो कि हम अभी पतित से पावन बन रहे हैं। तो यह बड़ी खराबियाँ हैं। समझाया जाता है आज से अपना कान पकड़ना चाहिए-कभी ऐसा कर्म नहीं करेंगे। कुछ भी अगर देखते हो तो बाबा को रिपोर्ट करनी चाहिए। तुम्हारा क्या जाता है! तुम एक-दो की ग्लानि क्यों करते हो! बाप सुनता तो सब-कुछ है ना। बाप ने कानों और आंखों का लोन लिया है ना। बाप भी देखते हैं तो यह दादा भी देखते हैं। चलन, वातावरण तो कोई-कोई का बिल्कुल ही बेकायदे चलता है। जिनका बाप नहीं होता है, उनको छोरा कहा जाता है। वह अपने बाप को भी नहीं जानते, याद भी नहीं करते हैं। सुधरने बदले और ही बिगड़ते हैं, इसलिए अपना ही पद गँवाते हैं। श्रीमत पर नहीं चलते तो छोरे हैं। माँ-बाप की श्रीमत पर नहीं चलते हैं। त्वमेव माताश्च पिता… बन्धू आदि भी बनते हैं।

परन्तु ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर ही नहीं तो मदर फिर कहाँ से होगी, इतनी भी बुद्धि नहीं। माया बुद्धि एकदम फेर देती है। बेहद के बाप की आज्ञा नहीं मानते हैं तो दण्ड पड़ जाता है। जरा भी सद्गति नहीं होती है। बाप देखते हैं तो कहेंगे ना-इनकी क्या बुरी गति होगी। यह तो टांगर, अक के फूल हैं। जिसको कोई भी पसन्द नहीं करता है। तो सुधरना चाहिए ना। नहीं तो पद भ्रष्ट हो जायेंगे। जन्म-जन्मान्तर के लिए घाटा पड़ जायेगा। परन्तु देह-अभिमानियों की बुद्धि में बैठता ही नहीं। आत्म-अभिमानी ही बाप से लव कर सकते हैं। बलिहार जाना कोई मासी का घर नहीं है। बड़े-बड़े आदमी बलिहार तो जा न सकें। वह बलिहार जाने का अर्थ भी नहीं समझते हैं। हृदय विदीर्ण होता है। बहुत बन्धनमुक्त भी हैं। बच्चा आदि कुछ भी नहीं है। कहते हैं बाबा आप ही हमारे सब कुछ हो। ऐसे मुख से कहते हैं परन्तु सच नहीं। बाप से भी झूठ बोल देते हैं। बलिहार गये तो अपना ममत्व निकाल देना चाहिए। अभी तो पिछाड़ी है तो श्रीमत पर चलना पड़े। मिलकियत आदि से भी ममत्व निकल जाए। बहुत हैं ऐसे बन्धनमुक्त। शिवबाबा को अपना बनाया है, एडाप्ट करते हैं ना। यह हमारा बाप टीचर सतगुरू है। हम उनको अपना बनाते हैं, उनकी पूरी मिलकियत लेने। जो बच्चे बन गये हैं वह घराने में जरूर आते हैं। परन्तु फिर उसमें पद कितने हैं। कितने दास-दासियां हैं। एक-दो पर हुक्म चलाते हैं। दासियों में भी नम्बरवार बनते हैं। रॉयल घराने में बाहर के दास-दासियां तो नहीं आयेंगे ना। जो बाप के बने हैं, उनको बनना है। ऐसे-ऐसे बच्चे हैं जिनमें पाई का भी अक्ल नहीं है।

बाबा ऐसे तो कहते नहीं कि मम्मा को याद करो वा मेरे रथ को याद करो। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। देह के सब बन्धन छोड़ अपने को आत्मा समझो। बाप समझाते हैं कि प्रीत रखनी है तो एक से रखो तब बेड़ा पार होगा। बाप के डायरेक्शन पर चलो। मोहजीत राजा की कथा भी है ना! पहले नम्बर में हैं बच्चे, बच्चा तो मिलकियत का मालिक बनेगा। स्त्री तो हाफ पार्टनर है, बच्चा तो फुल मालिक बन जाता है। तो बुद्धि उस तरफ जाती है, बाबा को फुल मालिक बनायेंगे तो यह सब कुछ तुमको दे देंगे। लेन-देन की बात ही नहीं। यह तो समझ की बात है। भल तुम सुनते हो फिर दूसरे दिन सब भूल जाता है। बुद्धि में रहेगा तो दूसरों को भी समझा सकेंगे। बाप को याद करने से तुम स्वर्ग के मालिक बनेंगे। यह तो बहुत सहज है, मुख चलाते रहो। एम आब्जेक्ट बताते रहो। विशालबुद्धि तो झट समझेंगे। अन्त में यह चित्र आदि ही काम आयेंगे। इसमें सारा ज्ञान भरा हुआ है। लक्ष्मी-नारायण और राधे-कृष्ण का आपस में क्या सम्बन्ध है? यह कोई नहीं जानते। लक्ष्मी-नारायण तो जरूर पहले प्रिन्स होंगे। बेगर टू प्रिन्स हैं ना! बेगर टू किंग नहीं कहा जाता। प्रिन्स के बाद ही किंग बनते हैं। यह तो बहुत ही सहज है परन्तु माया कोई को पकड़ लेती है, किसकी निंदा करना, ग्लानि करना – यह तो बहुतों की आदत है। और तो कोई काम है ही नहीं। बाप को कभी याद नहीं करेंगे। एक-दो की ग्लानि का धन्धा ही करते हैं। यह है माया का पाठ। बाप का पाठ तो बिल्कुल ही सीधा है। पिछाड़ी में यह सन्यासी आदि जागेंगे, कहेंगे कि ज्ञान है तो इन बी.के. में है। कुमार-कुमारियां तो पवित्र होते हैं। प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे हैं। हमारे में कोई खराब ख्याल भी नहीं आना चाहिए। बहुतों को अभी भी खराब ख्यालात आते हैं, फिर इसकी सज़ा भी बहुत कड़ी है। बाप समझाते तो बहुत हैं। अगर कुछ चाल तुम्हारी फिर खराब देखी तो यहाँ रह नहीं सकेंगे। थोड़ी सजा भी देनी होती है, तुम लायक नहीं हो। बाप को ठगते हो। तुम बाप को याद कर नहीं सकेंगे। अवस्था सारी गिर जाती है। अवस्था गिरना ही सजा है। श्रीमत पर न चलने से अपना पद भ्रष्ट कर देते हैं। बाप के डायरेक्शन पर न चलने से और ही भूत की प्रवेशता होती है। बाबा को तो कभी-कभी ख्याल आता है, कहीं बहुत बड़ी कड़ी सजायें अभी ही शुरू न हो जाएं। सजायें भी बहुत गुप्त होती हैं ना। कहीं कड़ी पीड़ा न आये। बहुत गिरते हैं, सजा खाते हैं। बाप तो सब ईशारे में समझाते रहते हैं। अपनी तकदीर को लकीर बहुत लगाते हैं इसलिए बाप खबरदार करते रहते हैं, अभी ग़फलत करने का समय नहीं है, अपने को सुधारो। अन्त घड़ी आने में कोई देरी नहीं है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कोई भी बेकायदे, श्रीमत के विरूद्ध चलन नहीं चलनी है। स्वयं को स्वयं ही सुधारना है। छी-छी गन्दे मनुष्यों से अपनी सम्भाल करनी है।

2) बन्धनमुक्त हैं तो पूरा-पूरा बलिहार जाना है। अपना ममत्व निकाल देना है। कभी भी किसी की निंदा वा परचिंतन नहीं करना है। गन्दे खराब ख्यालातों से स्वयं को मुक्त रखना है।

वरदान:- स्वराज्य अधिकार के नशे और निश्चय से सदा शक्तिशाली बनने वाले सहजयोगी, निरन्तर योगी भव
स्वराज्य अधिकारी अर्थात् हर कर्मेन्द्रिय पर अपना राज्य। कभी संकल्प में भी कर्मेन्द्रियां धोखा न दें। कभी थोड़ा भी देह-अभिमान आया तो जोश या क्रोध सहज आ जाता है, लेकिन जो स्वराज्य अधिकारी हैं वह सदा निरंहकारी, सदा ही निर्माण बन सेवा करते हैं इसलिए मैं स्वराज्य अधिकारी आत्मा हूँ – इस नशे और निश्चय से शक्तिशाली बन मायाजीत सो जगतजीत बनो तो सहजयोगी, निरन्तर योगी बन जायेंगे।
स्लोगन:- लाइट हाउस बन मन-बुद्धि से लाइट फैलाने में बिजी रहो तो किसी बात में भय नहीं लगेगा।

BRAHMA KUMARIS MURLI 5 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 December 2017

To Read Murli 4 December 2017 :- Click Here
05/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें लौकिक अलौकिक परिवार से तोड़ निभाना है, लेकिन किसी में भी मोह नहीं रखना है, मोह जीत बनना है”
प्रश्नः- कयामत का यह समय है, इसलिए बाप की कौनसी श्रेष्ठ मत सबको सुनाते रहो?
उत्तर:- बाप की श्रेष्ठ मत सुनाओ कि कयामत के पहले अपने पापों का हिसाब-किताब चुक्तू कर लो। अपना भविष्य श्रेष्ठ बनाने के लिए बाप पर पूरा-पूरा बलिहार जाओ। कयामत के पहले ज्ञान और योग से मुक्ति-जीवनमुक्ति का वर्सा ले लो। सारा पुरुषार्थ अभी ही करना है। बाप पर सब कुछ बलिहार करेंगे तो 21 जन्म के लिए मिल जायेगा। बाप का बनकर हर कदम पर डायरेक्शन लेते रहो।

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। अभी तुमको 3 बाप से तोड़ निभाना है। भक्तिमार्ग में दो बाप से तोड़ निभाना होता है। जब सतयुग में हो तो एक बाप से तोड़ निभाना होता है। ठीक है ना? हिसाब बुद्धि में बैठता है? जिसका बनना होता है, उनसे तोड़ भी निभाना होता है इसलिए बाप कहते हैं लौकिक कुटुम्ब परिवार से भी तोड़ निभाना है अन्त तक। कोई लौकिक सम्बन्धी को चिट्ठी लिखते हो तो वाया पोस्ट आफिस जाती है। यहाँ भी बेहद के बाप को चिट्ठी लिखते हो, शिवबाबा केयरआफ ब्रह्मा। इन बातों को सिवाए तुम्हारे और कोई नहीं समझते। यहाँ कोई नया आदमी आकर बैठे और बाबा कहे, तुमको 3 बाप हैं, तो समझ न सके। एक है लौकिक बाप। दूसरा – यह संगमयुगी अलौकिक बाप और तीसरा पारलौकिक बाप तो सबका है ही। भक्ति मार्ग में भी है तो अभी भी है। यह कोई जानते नहीं। सिर्फ उनका गायन पूजन करते हैं। तुम बच्चे तीनों ही बाप की जीवन कहानी जानते हो। कितनी बातें समझानी पड़ती हैं।

सतयुग में सब सद्गति में हैं। सुखी ही सुखी हैं। सभी सुखधाम, शान्तिधाम में हैं। रावणराज्य में सभी दु:खी हैं। देवतायें वाममार्ग में जाते हैं तो गिरने लग पड़ते हैं। दिखलाते हैं सोने की द्वारिका पानी के नीचे चली गयी। यह चक्र फिरता रहता है। नई ऊपर में आयेगी तो पुरानी फिर नीचे चली जायेगी। फिर सतयुग नीचे जायेगा तो कलियुग ऊपर आ जायेगा। फिर सतयुग ऊपर कब आयेगा? 5 हजार वर्ष बाद। बच्चों की बुद्धि में यह सारा नॉलेज आ गया है। नॉलेज तो सहज है। सिर्फ योग की मेहनत करनी पड़ती है। कोई जास्ती याद करते हैं, कोई थोड़ा याद करते हैं। तो मात-पिता बच्चों को समझाते हैं – लौकिक सम्बन्धियों से भी तोड़ निभाना है। आज नहीं तो कल उन्हों की भी बुद्धि में बैठेगा। देखेंगे यह तो ठीक है। एक बाप को याद करना है। कोई भी साधू-सन्त गुरू आदि को याद नहीं करना है। याद चैतन्य को भी करते हैं तो जड़ को भी करते हैं। सतयुग में कोई में भी मोह नहीं रहता। वहाँ मोहजीत रहते हैं। यहाँ सबमें मोह रहता है। फ़र्क है ना। ड्रामा में हर एक युग की रसम-रिवाज अपनी-अपनी है। यह बाप बैठ समझाते हैं क्योंकि बाप ही नॉलेजफुल है। है यह भी बाप, वह भी बाप। वह भी क्रियेटर, यह भी क्रियेटर। ब्रह्मा द्वारा क्रियेट करते हैं। एडाप्ट करते हैं। एडाप्ट करना अर्थात् अपना बनाना। शूद्र धर्म वाले, जिनका बहुत जन्मों के भी अन्त का जन्म है, उनको बाप एडाप्ट करते हैं। तुम बच्चे बाप को जान गये हो और बाप द्वारा सृष्टि चक्र को भी जान चुके हो। बाप द्वारा क्या वर्सा मिलता है, उनको भी जान गये हो। तुम बड़े हो, समझते हो तब तो एडाप्ट हुए हो। बिगर समझ एडाप्ट कैसे होंगे। कोई को अपना बच्चा नहीं होता तो दूसरे को अपना बनाते हैं। साहूकार का ही बच्चा बनेंगे। गरीब का थोड़ेही बच्चा बनेंगे। बाप कहते हैं मुझे बच्चे चाहिए। जरूर एडाप्ट करेंगे। यह भी तुम जानते हो – एडाप्ट उनको करेंगे जिनको कल्प पहले किया है। जो कल्प पहले पार्ट चला है, वही एक्ट रिपीट होती जायेगी। जब मेरे बनेंगे तब उनको पढ़ाऊंगा। बाप को और घर को याद करो। सुखधाम और शान्तिधाम को याद करना – बहुत सहज है। परन्तु बुद्धि बड़ी विशाल चाहिए। छोटे बच्चे समझ नहीं सकेंगे। वह सिर्फ बाबा, बाबा कहेंगे और कोई के पास जायेंगे नहीं। यहाँ तो सब हैं गुप्त बातें। समझ भी है – बुद्धि को ताकत मिलती है। ताकत मिलने से सोने के बन जाते हैं। कोई कमजोर होते हैं तो उनको सोने का सोल्युशन पिलाते हैं। सोने का पानी भी बनाते हैं। यहाँ तो तुमको रूहानी नॉलेज मिल रही है। यह नॉलेज ही इनकम है। नॉलेज तो सबको एक ही मिलती है, फिर जो पुरुषार्थ करे। इसमें मूँझने वा घबराने की कोई बात नहीं। सिर्फ बाबा का बनना है। बाप के वर्से को याद करना है। सारा दिन तो निरन्तर याद कर नहीं सकेंगे। धन्धा आदि भी करना है। कोई को तो धन्धा आदि भी नहीं है, फिर भी याद नहीं कर सकते। जब तक कर्मातीत अवस्था नहीं हुई है, पुरुषार्थ करते रहना है। वह वायुमण्डल दिखाई पड़ेगा। समझेंगे अभी समय नजदीक आता जाता है। जब बहुत दु:ख आयेगा तो फिर भगवान को याद करते रहेंगे। मौत सामने दिखाई पड़ेगा। तुम्हारे में भी सबको अपनी अवस्था का मालूम पड़ जायेगा कि हमारी कमाई कम है। योग होगा तो आत्मा से खाद निकलती जायेगी। फिर बाबा भी बुद्धि का ताला ढीला करेंगे। मनुष्य बीमारी में ईश्वर को याद करते, डर रहता है। सब उनको याद कराते हैं – राम कहो, राम कहो। बाप भी कहते हैं बाप और वर्से को याद करते रहो। एक दो को सावधान कर उन्नति को पाना है। ऐसे नहीं पुरुष चले, स्त्री को न चलाये। यह जोड़ा है हाफ पार्टनर का, परन्तु आजकल हाफ पार्टनर भी समझते नहीं हैं। कोई-कोई इज्जत रखते हैं। नहीं तो आजकल बच्चे ऐसे निकल पड़े हैं जो बाप की मिलकियत को उड़ा देते हैं, माँ को पूछते भी नहीं। वहाँ तो यह सब बातें होती नहीं, कभी दु:ख नहीं होता। यहाँ पहले-पहले दु:ख ही मिलता है, सगाई की और लगी काम कटारी। देवियों को तलवार आदि दिखाते हैं। वास्तव में यह हैं ज्ञान के अलंकार। स्वदर्शन चक्र भी देवताओं को नहीं हैं। यह तुम ब्राह्मणों के हैं। गदा भी तुम्हारी निशानी है। ज्ञान की गदा से तुम माया पर जीत पाते हो। बाकी वहाँ ऐसी चीज़ों की दरकार नहीं रहती। वहाँ बड़ी मौज से रहते हैं। तपस्या करने की भी दरकार नहीं। वह तो तपस्या का फल है। सूक्ष्मवतन में हैं फरिश्ते। वह है फरिश्तों की दुनिया। यहाँ फरिश्ते नहीं रहते। देवताओं को देवता कहेंगे। वह हैं फरिश्ते और यहाँ हैं मनुष्य। सभी का अलग-अलग सेक्शन है। सतयुग में देवतायें राज्य करते हैं। वह है टाकी दुनिया। सूक्ष्मवतन में है मूवी दुनिया। दुनिया भी 3 हैं, मूलवतन, सूक्ष्मवतन और स्थूल वतन। तीन लोक कहते हैं ना। तुम्हारी बुद्धि में यह प्रैक्टिकल में है। मनुष्य तो सुनी-सुनाई पर चलते हैं। तुम अच्छी रीति जानते हो कि यह दुनिया का चक्र कैसे फिरता है। तीनों लोकों को जानते हो। सिवाए बाप के आदि-मध्य-अन्त का राज़ कोई बता नहीं सकते। कोई भी त्रिकालदर्शी है नहीं। यह थोड़ेही कोई जानते हैं कि मूलवतन में आत्मायें कहाँ, कैसे रहती हैं। तुम जानते हो वहाँ आत्माओं का झाड़ है। वहाँ से नम्बरवार आते हैं। हम सब आत्मायें बच्चे शिवबाबा की माला हैं। जैसे सिजरा बनाते हैं। क्रिश्चियन लोग भी झाड़ बनाते हैं। खुशी मनाते हैं। क्राइस्ट का बर्थ डे मनाते हैं। अभी तुम किसका बर्थ डे मनायेंगे? मनुष्यों को यह पता ही नहीं कि हमारा धर्म स्थापक कौन है? और सभी धर्म स्थापन करने वाले का हिसाब-किताब निकालते हैं। देवी-देवता धर्म किसने स्थापन किया, यह किसको पता नहीं है। बाप बैठ समझाते हैं, मैजारिटी माताओं की है। शक्तियों का मान बढ़ाना चाहिए। ऐसे नहीं कि हमको देह-अभिमान आ जाए, हम होशियार हैं। नहीं। फिर भी मान रखना है माता का। नाम ही है ब्रह्माकुमारी विश्वविद्यालय। ज्ञान का कलष माताओं के सिर पर रखते हैं। वह तीखी हैं। सरस्वती के हाथ में सितार दी है। कृष्ण और सरस्वती के कनेक्शन का भी पता नहीं है। सरस्वती ब्रह्मा की बेटी है। यह भी किसको मुश्किल पता होगा। हर एक बात अच्छी रीति समझाई जाती है।

बाप ने समझाया है – इस ज्ञान-योग के सिवाए कोई भी मुक्ति-जीवनमुक्ति पा नहीं सकते। और सब तो यह पढ़ेंगे भी नहीं। हर एक को अपना हिसाब-किताब चुक्तू करना है। पाप का दण्ड तो मिलता ही है। दुनिया वाले यह नहीं समझते कि अब कयामत का समय है। तुम्हारा सब पापों का हिसाब-किताब चुक्तू होता है। भविष्य के लिए इतना जमा करना है जो आधाकल्प चल सके। सारा पुरुषार्थ अभी करना है। बाप कहते हैं सब कुछ बलिहार कर दो तो उनका फल 21 जन्म के लिए मिल जायेगा। गरीब झट सौदा कर सकते हैं। जिनके पास लाख-करोड़ हैं, बुद्धि में बैठ न सके। बाप कुछ लेते नहीं हैं। कहते हैं – तुम ट्रस्टी होकर सम्भालो। श्रीमत पर तुम चलो। मैं तो जीता हूँ। कोई जीते जी भी ट्रस्ट में देते हैं। समझते हैं अचानक मर जाऊं तो झगड़ा पड़ जायेगा। बाबा भी जीते जी बैठा है। कहते हैं – बाप का बन डायरेक्शन लो। यह करूँ वा न करूँ। बाबा राय देंगे भल यह करो – हर एक की अवस्था पर मदार है। कोई विल भी कर लेते हैं। मोह भी बहुतों में है, जो अपने पाँव पर होगा उनको भी दे देंगे। बाप के पास कोई चालाक भी हैं – बच्चों को बांट कर बाकी अपने लिए रखते हैं। बस हम उनसे चलते हैं। ऐसे भी करते हैं। यह तो बेहद का बाप है। हर एक बच्चे को जानते हैं, ड्रामा को भी जानते हैं। समझते हैं इसमें पैसे की दरकार नहीं है। उस मिलेट्री पर गवर्मेन्ट का बहुत खर्चा होता है। तुम्हारा खर्चा कुछ भी नहीं। रात-दिन का फ़र्क है। तुम जानते हो यह सारी मिलकियत आदि खत्म हो जाने वाली है। हमको धरनी ही नई सतोप्रधान चाहिए। अभी तो तमोप्रधान है। लक्ष्मी का आह्वान करते हैं, तो सारे घर की सफाई करते हैं, शुद्ध घर में देवी आये।

बाबा ने समझाया है देवतायें इस धरती पर पैर नहीं रखते। वह सिर्फ साक्षात्कार कराते हैं। साक्षात्कार में पैर थोड़ेही धरनी पर होते हैं। मीरा भी ध्यान में देखती थी। यहाँ कोई देवता आ न सके। देवतायें सतयुग में होते हैं कलियुग में फिर उनके अगेन्स्ट है। देवताओं और असुरों की लड़ाई है नहीं। वास्तव में यह है माया से लड़ाई। योगबल से माया पर जीत पहनाने वाला, सर्व का सद्गति दाता एक बाप है। पहले-पहले है ही रुद्र माला। वहाँ इस माला को कोई जानते ही नहीं। तुम संगमयुग पर ही जानते हो कि ब्राह्मणों की माला तो बन न सके। पीछे है फिर विष्णु की माला। यह सब हैं डिटेल की बातें। कोई कहते हैं हमें धारणा नहीं होती है। अच्छा कोई हर्जा नहीं है। बाप को याद करना तो सहज है ना। तुम बाप को कैसे भूलते हो। जिस बाप से स्वर्ग का वर्सा मिलता है। जबरदस्त आमदनी है। फिर भी माया बुद्धि का योग हटा देती है। साजन जो श्रृंगार कराए महारानी बनाते हैं, ऐसे साजन को भूल जाते हैं। आधाकल्प माया का राज्य चलता है। अभी तुम माया पर जीत पाकर जगतजीत बनते हो।

यह सारी दुनिया कैसे चलती है – तुम आदि से अन्त तक जानते हो। नाटक देखकर आते हैं, उसमें मालूम पड़ता है पिछाड़ी में अब यह सीन होगी। इसमें ऐसे नहीं है। तुम जानते हो सेकण्ड बाई सेकण्ड जो चलता है सो ड्रामा। ड्रामा के पट्टे पर मजबूत रहना है। जो कुछ हो जाता, ड्रामा। नाराज़ होने की कोई बात नहीं। कोई ने शरीर छोड़ा उनको जाए अपना पार्ट बजाना है। एक शरीर छोड़ दूसरा लिया। तुम्हारी बुद्धि में यह स्वदर्शन चक्र फिरता रहना चाहिए। तुमको शंखध्वनि करनी है, बाप का परिचय देना है। हाथ में चित्र हो कि यह लक्ष्मी-नारायण भारत के मालिक थे। अभी कलियुग है। फिर बाप आया है – राज्य भाग्य देने। हम ब्रह्माकुमार-कुमारी पढ़ रहे हैं, दादे से वर्सा ले रहे हैं। तुमको भी लेना हो तो लो। यह है तुम्हारा निमंत्रण फिर बहुत आयेंगे, वृद्धि होती जायेगी। शिव जयन्ती पर भी अच्छा ही आवाज होगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ड्रामा के पट्टे पर मजबूत रहना है। किसी भी बात में नाराज़ नहीं होना है। सदा राज़ी रहना है।

2) एक दो को सावधान कर उन्नति को पाना है। धन्धा आदि करते भी बाप की याद में रहने का पुरुषार्थ करना है।

वरदान:- सेवा के बंधन द्वारा कर्म-बन्धनों को समाप्त करने वाले विश्व सेवाधारी भव 
प्रवृत्ति में रहते हुए कभी यह नहीं समझो कि हिसाब-किताब है, कर्मबन्धन है…लेकिन यह भी सेवा है। सेवा के बन्धन में बंधने से कर्मबन्धन खत्म हो जाता है। जब तक सेवा भाव नहीं होता तो कर्मबन्धन खींचता है। कर्मबन्धन होगा तो दु:ख की लहर आयेगी और सेवा का बन्धन होगा तो खुशी होगी इसलिए कर्मबन्धन को सेवा के बंधन से समाप्त करो। विश्व सेवाधारी विश्व में जहाँ भी हैं, विश्व सेवा अर्थ हैं।
स्लोगन:- अपने दैवी स्वरूप की स्मृति में रहो तो आप पर किसी की व्यर्थ नज़र नहीं जा सकती।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

TODAY MURLI 5 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 4 December 2017 :- Click Here

05/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to fulfil your responsibilities to your worldly and your spiritual families, but you mustn’t have attachment to anyone. Become conquerors of attachment.
Question: This is the time of settlement. Therefore, what elevated directions should you continue to tell everyone about?
Answer: The Father’s elevated directions that you have to tell everyone are: Settle the karmic accounts of your sins before the time of settlement. In order to make your future elevated, surrender yourself completely to the Father. Claim your inheritance of liberation and liberation-in-life before the time of settlement with knowledge and yoga. Only at this time do you have to make all this effort. If you surrender everything to the Father, everything you receive in return will be for 21 births. For as long as you belong to the Father, continue to take directions at every step.

Om shanti. The Father sits here and explains to you children. You now have to fulfil your responsibilities to three fathers. On the path of devotion you have to fulfil your responsibilities to two fathers. When you are in the golden age, you have to fulfil your responsibility to one father. This is right, is it not? Does this calculation sit in your intellects? You have to fulfil your responsibility to whomever you belong. This is why the Father says: You have to fulfil your responsibilities to your worldly family etc. till the end. When you write a letter to your worldly relatives, it goes via the post office. Here, too, when you write a letter to the unlimited Father you write: Shiv Baba, c/o Brahma. No one, apart from you, understands these things. If a new person comes and sits here while Baba tells you that you have three fathers, he wouldn’t be able to understand it. One is a worldly father; the second is the spiritual, confluence-aged father and the third is the Father from beyond who is the Father of all. He exists on the path of devotion and also now. No one knows this. They simply remember Him and worship Him. You children know the biographies of all three fathers. So many things have to be explained. In the golden age, all are in salvation and there is nothing but happiness. All are in the land of happiness or the land of peace. In the kingdom of Ravan, all are unhappy.

When deities go on to the path of sin they begin to fall. It is shown that the golden Dwaraka went beneath the water. This cycle continues to turn; the new world will come up and the old one will then go down below. The golden age will go down below and the iron age will come up above. So, when will the golden age come up again? After 5000 years. All of this knowledge is now in the intellects of you children. This knowledge is easy. You simply have to make effort for yoga. Some remember Him a great deal whereas others only remember Him a little. Therefore, the Mother and Father explain to the children. You also have to fulfil your responsibilities to your worldly relatives. If not today, then tomorrow, it will sit in their intellects. They will see that this is fine. You have to remember the one Father. You mustn’t remember any sages, holy men or gurus etc. They remember the living and the non-living. Those in the golden age don’t have attachment to anyone. They are all conquerors of attachment there whereas everyone here has attachment. There is this difference. In the drama, the customs and systems of every age are their own. The Father sits here and explains this because the Father is knowledgefull. That One is the Father and this one is also the father. This one is a creator and that One is also the Creator. He creates through Brahma; He adopts you. To adopt means to make you belong to Him. Those who belong to the shudra religion, who are now in the last of many births, are adopted by the Father. You children now know the Father and you have also come to know the world cycle from Him. You also know what inheritance you receive from the Father. You are mature and able to understand and this is why you are adopted. How could you be adopted unless you had understanding? If someone doesn’t have a child of his own, he adopts the child of someone else. They would only be adopted by wealthy parents; they would not be adopted by poor parents. The Father says: I want children. He will definitely adopt you. You also know that He will adopt those whom He adopted in the previous cycle. The part that was enacted in the previous cycle will continue to be enacted now. When you belong to Me, I will teach you. Remember the Father and the home. It is very easy to remember the land of happiness and the land of peace. However, you need a very broad and unlimited intellect. Little children would not be able to understand. They simply say: Baba, Baba! They would not go to anyone else. Here, everything is incognito. You have the understanding that the intellect receives strength. When it receives strength it becomes golden. When some people are weak, they are given a solution of gold to drink. They even make a gold water solution. Here, you are receiving spiritual knowledge. This knowledge is your income. Everyone receives the same knowledge and it then depends on how much effort you make. There is no question of becoming confused or afraid about this. You simply have to belong to Baba. Remember the Father’s inheritance. You would not be able to remember Baba constantly throughout the day; you also have to do your business etc. Some don’t have any business and yet they are unable to remember Baba. Until you reach your karmateet stage, you have to continue to make effort. That atmosphere will be visible. You will also understand that that time is now coming close. When a lot of sorrow comes, they will begin to remember God. Death will be visible just ahead. You, too, will all come to know your stage. You will realise that you are earning very little. When you have yoga, the alloy continues to be removed from you souls. Then, Baba will also loosen the locks on your intellects. People remember God when they are ill because they are afraid. Everyone reminds them to remember God: Say, “Rama, Rama!” The Father also says: Continue to remember the Father and the inheritance. Caution one another and continue to make progress. It shouldn’t be that the husband follows this path but doesn’t allow his wife to do so. Here, you couples are half-partners. However, nowadays, they don’t consider one another to be half-partners. Some maintain that honour. Otherwise, children nowadays are such that they squander their father’s wealth and don’t even care about their mother. None of these things happen there. There is never sorrow there. Here, you first of all receive sorrow. As soon as you get married you are hit by the sword of lust. Goddesses are shown with swords etc. In fact, those ornaments are of knowledge. The discus of self-realisation doesn’t belong to the deities; it belongs to you Brahmins. The mace is also your symbol. You conquer Maya with the mace of knowledge. There is no need for such things there. There, you live in great comfort. You don’t even need to do tapasya. That is the fruit of tapasya. There are angels in the subtle region. That is the world of angels. Angels don’t reside here. Deities are called deities. Those are angels whereas here, there are human beings. Everyone’s section is separate. Deities rule in the golden age. That is the world of ‘talkie . The subtle region is the world of ‘movi e’. There are three worlds: the incorporeal world, the subtle region and the corporeal world. They speak of three worlds. You have this in your intellects in a practical way. People simply continue to move along according to whatever they have heard. You know very clearly how the world cycle turns. You know all three worlds. No one, apart from the Father, can tell you the secrets of the beginning, the middle and the end. No one is trikaldarshi. No one knows how or where souls reside in the incorporeal world. You know that there is the tree of souls in the incorporeal world. Souls continue to come down from there, numberwise. All of us souls, us children, are the rosary of Shiv Baba. That is like a genealogical tree. Christians also have a tree and they celebrate with happiness: they celebrate the birthday of Christ. Whose birthday will you now celebrate? People (of Bharat) don’t know who the founder of their religion is. They have a proper calculation of all the other founders of religions, but no one knows who established the deity religion. The Father sits here and explains. Women are in the majority. Regard for the Shaktis should be increased. Don’t think that you have to have body consciousness and consider yourselves to be clever, no. You have to give regard to the mothers. The very name is Brahma Kumaris World Spiritual University. The urn of knowledge is placed on the heads of the women. They are clever. They have shown Saraswati holding a sitar. They don’t even know the connection between Krishna and Saraswati. Saraswati is the daughter of Brahma. Hardly anyone knows this. Everything is explained very clearly. The Father has explained that without this knowledge and yoga no one can attain liberation and liberation-in-life. Not everyone will study this. Each one has to settle his own accounts. Punishment for sins committed is definitely received. People of the world don’t understand that it is now the time of settlement. The accounts of all your sins are now being settled. You have to accumulate so much for the future that it can last for half the cycle. You have to make all the effort at this time. The Father says: Surrender everything and you will receive the fruit of that for 21 births. Poor ones are able to make this deal quickly. You would not be able to make this sit in the intellects of those who have hundreds of thousands or millions. The Father doesn’t really take anything. It is said: Look after it all as a trustee . Follow shrimat! I am living. Some set up a trust while they are alive because they think that there will be quarrelling if they die suddenly. Baba is alive, sitting here. He says: Belong to the Father and take directions as to whether you should do something or not. Baba will advise you whether you may do something. Everything depends on each one’s stage. Some even make a will. Many have a lot of attachment, so they would even give to those who are standing on their own feet. The father also has some clever children. They distribute everything to their children and then also keep something for themselves. “We will continue to live on this.” There are some who also do this. That is the unlimited Father. He knows each and every child. He also knows the drama. People understand that there is no need for money here. In that military, the Government has a lot of expense. You don’t have any expense. There is the difference of day and night. You know that all of this property etc. is going to be destroyed. We want a new, satopradhan land; it is tamopradhan at present. When people invoke Lakshmi, they clean their whole home thinking that the goddess would come in a clean home. Baba has explained that deities don’t set foot on this land. They simply give a vision. In visions, their feet are not on the ground. Meera also used to see them in visions. None of the deities can come here. Deities exist in the golden age. Everything is against the deities in the iron age. There is no battle between deities and devils. In fact, this is the battle with Maya. The Bestower of Salvation for All, who enables you to conquer Maya with the power of yoga, is only the one Father. First of all, there is the rosary of Rudra. There, no one knows this rosary. Only at the confluence age do you come to know that a rosary of Brahmins cannot be created. Afterwards, there is the rosary of Vishnu. All of these things are the detail. Some say that they are unable to imbibe knowledge. OK, it doesn’t matter. It is easy to remember the Father, is it not? How can you forget the Father? The Father from whom you receive the inheritance of heaven? It is such a great income! Nevertheless, Maya still removes your intellect’s yoga. You forget the Bridegroom who decorates you and makes you into an empress! For half the cycle, the kingdom of Maya continues. You are now conquering Maya and becoming conquerors of the world. How does this whole world continue? You know it from the beginning to the end. When you go home after seeing a play, you are aware of what the scene at the end was. It is not like that here. You know that whatever happens, second by second , is the drama. You have to remain firmly on the rails of the drama. Whatever happens is the drama. There is no question of becoming upset. If someone sheds his body, he has to go and play his part. He sheds a body and takes another. The discus of self-realisation should continue to spin in your intellects. You have to blow the conch shell and give the Father’s introduction. You should have a picture in your hand: This Lakshmi and Narayan were the masters of Bharat and it is now the iron age. The Father has come once again to give you your fortune of the kingdom. We Brahma Kumars and Kumaris are studying. We are claiming our inheritance from our Grandfather. If you want to claim it, you can. This is your invitation. Many will come later; there will continue to be expansion. The sound will spread very well even at Shiva Jayanti. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remain firmly on the rails of the drama. Don’t become upset about anything. Stay constantly happy.
  2. Caution one another and continue to make progress. While doing your business, make effort to stay in remembrance of the Father.
Blessing: May you be a world server and finish your karmic bondages with the bond of service.
While living at home with your family, never think that it is a karmic account or a karmic bondage, for that too is service. When you are tied in the bond of service, your karmic bondages finish. Until and unless there is the motive to serve, karmic bondages will pull you. When there are karmic bondages, there will be waves of sorrow whereas when there is the bond of service, there will be happiness. Therefore, finish your karmic bondages with the bond of service. Wherever in the world a world server is, it is for world service.
Slogan: Maintain the awareness of your deity form and no one’s wasteful vision will fall on you.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize