31 october ki murli

TODAY MURLI 31 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 31 October 2020

31/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, it is your duty to show everyone the path to permanent peace and happiness. Remain peaceful and give everyone the reward of peace.
Question: To understand which deep secret do you need to have an unlimited intellect?
Answer: The scenes of the drama will be performed at the time they are meant to be. The drama has an accurate duration. The Father too comes at His accurate time; there cannot be the difference of even one second in this. The Father comes and enters this one after exactly 5000 years. You need an unlimited intellect to understand this deep secret.
Song: Although the whole world may change, we will never change.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to the spiritual children. He shows you children the path to the land of peace and the land of happiness. At this time, all human beings want peace in the world. Everyone wants individual peace as well as peace in the world. Everyone says: “I want peace of mind”, but where can they attain that? You can receive your inheritance from the Father who is the Ocean of Peace. We receive it individually as well as wholesale, that is, everyone can receive it. The children who study can understand that they are making effort for themselves to claim their inheritance of happiness and they also show the path to others. Whether they come to claim their inheritance or not, there definitely will be peace in the world. The duty of you children is to give peace to all the children. You must not think: What would be the benefit if only two or four received this inheritance? Some are shown the path but, because they don’t have faith, they cannot make others become like themselves. Those whose intellects have faith understand that they receive blessings from Baba. Blessings are given, such as: May you have a long life! May you be wealthy! You cannot get blessings just by asking for these things. If they ask for blessings, it is explained to them: If you want peace, then make effort in this way. You can receive anything by making effort. They receive so many blessings on the path of devotion. They ask for blessings from everyone – their mother, their father, their teacher, their guru etc. – to remain peaceful and happy. However, they are unable to remain so because there are so many human beings. So, how can they receive happiness and peace? They even sing: O Bestower of Peace. It enters the intellect: O Supreme Father, Supreme Soul, give us the reward of peace. In fact, this is something you can pick up and give to someone. It is said: This is your reward, your prize. The Father says: No matter how much reward of wealth, buildings or clothes etc. someone gives, those donations and that charity are just for a temporary period. Human beings give to human beings. The wealthy have been giving to the poor; the wealthy have been giving to the wealthy. However, here, you have permanent peace and happiness. No one here can give happiness or peace for even one birth, because no one has that himself. It is only the one Father who gives this. He is called the Ocean of Happiness, Peace and Purity. The praise of only the highest-on-high Father is sung. They believe that peace can only be received from Him. They go to those sages and holy men because that is the path of devotion. So, they continue to go around in circles. All of those efforts are for temporary things. You children have stopped doing all of that. You even write: You can claim the inheritance of 100% happiness, peace and purity from the unlimited Father. There is now 100% impurity, sorrow and peacelessness here, but human beings don’t understand this. They say that the rishis and munis etc. are pure, but creation still takes place through poison, does it not? This is the main thing. Purity cannot exist in the kingdom of Ravan. Only the one Father is the Ocean of Purity, Happiness and Peace. You know that we receive our inheritance for 21 births, which means for half the cycle, for 2,500 years, from Shiv Baba. This is guaranteed. For half the cycle it is the land of happiness and for the other half it is the land of sorrow. The world has two parts: one new and the other old. However, no one knows when it becomes new or when it becomes old. No one can tell the age of the tree accurately. You have now learnt about this tree from the Father. This tree is 5000 years old. Only you know its accurate age. No one knows the age of other trees. They can only estimate that. Storms come, trees fall and their lives end. Human beings also die suddenly. The age of this unlimited tree is exactly 5000 years. There cannot be one day less or one day more than this. This tree is predestined. There can be no change in it. The scenes that come in the drama will come at the time they are meant to. The drama has to repeat identically. Its age is also accurate. The Father has to come to establish the new world. He too comes at the accurate time. There cannot be the difference of even a second in this. Your intellects are now unlimited. Only you understand that the Father comes and enters this body after exactly 5000 years. This is why “Shiv Ratri” is said. For Krishna, they say: “Janamashtmi”. They don’t say, “The birthday of Shiva”. They say, “The night of Shiva”. This is because, if there were birth, there would also be death. “Birthday” is said for human beings. For Shiva, “Shiv Ratri” is always said. No one in the world knows anything about these things. You understand why they call it Shiv Ratri and why they don’t call it Janamashtmi. His birthday is divine and unique. No one else can have a birth like that. No one knows how Shiv Baba comes or when He comes. Only you know the meaning of Shiv Ratri. This is the unlimited night. When the night of devotion finishes, there is the day. The night of Brahma and the day of Brahma are also those of the Brahmins. It is not just a play about Brahma alone. You know that the day is now going to begin. After studying you will go to your home. You will then go into the day. It is said: For half the cycle there is day, and for the other half there is night. However, this doesn’t enter anyone’s intellect. Those people say that 40,000 years of the iron age still remain and that the golden age is 100,000 years. In that case, there couldn’t be a calculation of half and half. No one knows the duration of the cycle. You know the beginning, middle and end of the whole world. After 5000 years, the world goes through another cycle. It is still the same world. Human beings get tired from playing their parts in it: What is all this coming and going? If it were the coming and going of 8.4 million births, who knows what would happen? Due to ignorance they have lengthened the duration of the cycle. You children are now studying personally with the Father. You feel inside that you are sitting in front of Him practically. The elevated confluence age definitely has to come. No one but you children knows when it comes or how it comes; therefore you children should be bubbling with happiness. It is you who claim the kingdom from the Father cycle after cycle. In other words, you claim victory over Maya and you are then defeated. This is the unlimited defeat and victory. Those kings experience a lot of defeat and victory. There are many wars. When they have won a small war, they can say: We have now won. What do they win? They just win a small piece of land. When they lose a big war, they lower the flag. At first there is one king. Then there is expansion. At first there is the kingdom of Lakshmi and Narayan. Then other kings start to come. It is just like how they show how there was at first one Pope and then how other Popes came after, numberwise. There is no certainty about when death will come to anyone. You children know that Baba is making us immortal. He is making us into the masters of the land of immortality. There should be so much happiness! This is the land of death and that is the world of immortality. No one new can understand these things. They don’t enjoy this as much as the old ones do. Day by day, there is growth. Faith becomes firm. There has to be a lot of tolerance. This is the devilish world. It doesn’t take them any time to cause sorrow. You souls say: We are now following Baba’s shrimat. We are at the confluence age and everyone else is in the iron age. We are becoming the most elevated. We become the highest of human beings through this study. It is by studying that someone becomes the Chief Justice, etc. The Father is teaching you. You claim a status through this study according to the efforts you make. A person receives a grade according to how much he or she studies. There is the grade of claiming a kingdom in this. In those studies, there isn’t a grade for a kingdom. You know that you are becoming the kings of kings. Therefore, there should be so much happiness inside you. We are becoming very elevated and doublecrowned. God, the Father, is teaching us. No one can understand how the incorporeal Father comes and teaches. Human beings call out: O Purifier, come and purify us! Yet they don’t become pure. The Father says: Lust is the greatest enemy. On the one hand, you call out: O Purifier, come! I have now come and I say: Children, stop becoming impure. So, why don’t you stop becoming impure? It shouldn’t be that the Father makes you pure and you continue to become impure. Many become impure like this. Some speak the truth: Baba, I made this mistake. Baba says: If you have performed a sinful action, tell Baba immediately. Some speak the truth and some tell lies. Who is asking, anyway? I am not going to sit here and find out what is going on inside each one of you. That is not possible. I just come to give advice. If you don’t become pure, that is your loss. If, after making effort to become pure, you become impure, the income you have earned will be destroyed. You will feel ashamed that you have become impure. In that case, how could you tell others to become pure? Your conscience will bite you inside about how much you disobeyed orders. Here, you make a direct promise to the Father. You know that Baba is making us into the masters of the land of happiness and the land of peace. He is present and in front of you. We are personally sitting in front of Him. This one didn’t have this knowledge before, nor did he receive it from a guru. If he had had a guru, would that guru have given knowledge to just one? There are many followers of gurus; there wouldn’t be only one. These things have to be understood. There is only the one Satguru and He shows us the path. We then show it to others. You tell everyone to remember the Father, that’s all. By remembering the Father, who is the Highest on High, you will claim an elevated status. You are becoming the kings of kings. You will have countless wealth. You are filling your aprons, are you not? You know that Baba is filling our aprons so much. It is said that Kuber had a lot of wealth. In fact, each one of you is Kuber. You receive treasures in the form of heaven. There is the story of God, the Friend. He used to give the kingdom for a day to whoever He met first. All of these things are examples. Allah means the Father. He is the Creator of the first religion. You have had visions. You know that you are truly claiming the kingdom of the world with the power of yoga. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to become very, very tolerant in this devilish world. Even if someone defames you or makes you unhappy, you have to tolerate that. Never stop following the Father’s shrimat.
  2. The Father has given you a direct order to become pure. Therefore, never become impure. If you commit a sin, don’t hide it.
Blessing: May you become one with many forms, like the Father, and in your heart-to-heart conversation in your meeting with God understand the true response.
The Father is one with many forms, and from being incorporeal He takes a subtle costume in a second. In the same way, when you also renounce that dress of mud and wear a subtle, angelic dress, a sparkling dress, you will easily experience a meeting and be able to understand clearly the responses in your heart-to-heart conversation, because this dress is waterproof and fireproof against the attitude and vibrations of the old world. Maya cannot interfere with this.
Slogan: Determination makes the impossible possible.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 31 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

31-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हारा फ़र्ज है सबको स्थायी सुख और शान्ति का रास्ता बताना, शान्ति में रहो और शान्ति की बख्शीश (इनाम) दो”
प्रश्नः- किस गुह्य राज़ को समझने के लिए बेहद की बुद्धि चाहिए?
उत्तर:- ड्रामा की जो सीन जिस समय चलनी है, उस समय ही चलेगी। इसकी एक्यूरेट आयु है, बाप भी अपने एक्यूरेट टाइम पर आते हैं, इसमें एक सेकेण्ड का भी फ़र्क नहीं पड़ सकता है। पूरे 5 हज़ार वर्ष के बाद बाप आकर प्रवेश करते हैं, यह गुह्य राज़ समझने के लिए बेहद की बुद्धि चाहिए।
गीत:- बदल जाए दुनिया न बदलेंगे हम…….. 

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप बैठ समझाते हैं। बच्चों को रास्ता बताते हैं – शान्तिधाम और सुखधाम का। इस समय सब मनुष्य विश्व में शान्ति चाहते हैं। हर एक इन्डिविज्युअल भी चाहते हैं और विश्व में भी शान्ति चाहते हैं। हर एक कहते हैं मन की शान्ति चाहिए। अब वह भी कहाँ से मिल सकती है। शान्ति का सागर तो बाप ही है, जिससे वर्सा मिल सकता है। इन्डिविज्युअल भी मिलता है, होलसेल भी मिलता है। यानी सबको मिलता है। जो बच्चे पढ़ते हैं, समझ सकते हैं हम शान्ति का वर्सा लेने अपना भी पुरूषार्थ करते हैं, औरों को रास्ता बताते हैं। विश्व में शान्ति तो होनी ही है। चाहे कोई वर्सा लेने आये वा न आये। बच्चों का फर्ज है, सब बच्चों को शान्ति देना है। यह समझ नहीं सकते, 2-4 को वर्सा मिलने से क्या होगा। कोई को रास्ता बताया जाता है, परन्तु निश्चय न होने कारण दूसरों को आपसमान बना नहीं सकते। जो निश्चयबुद्धि हैं वह समझते हैं बाबा से हमको वर मिल रहा है। वरदान देते हैं ना – आयुश्वान भव, धनवान भव भी कहते हैं। सिर्फ कहने से तो आशीर्वाद नहीं मिल सकती। आशीर्वाद मांगते हैं तो उनको समझाया जाता है तुमको शान्ति चाहिए तो ऐसे पुरूषार्थ करो। मेहनत से सब कुछ मिलेगा। भक्ति मार्ग में कितनी आशीर्वाद लेते हैं। माँ, बाप, टीचर, गुरू आदि सबसे मांगते हैं – हम सुखी और शान्त रहें। परन्तु रह नहीं सकते क्योंकि इतने ढेर मनुष्य हैं, उनको सुख-शान्ति मिल कैसे सकती। गाते भी हैं – शान्ति देवा। बुद्धि में आता है – हे परमपिता परमात्मा, हमको शान्ति की बख्शीश करो। वास्तव में बख्शीश उसको कहा जाता है जो चीज़ उठाकर देवें। कहेंगे यह तुमको बख्शीश है, इनाम है। बाप कहते हैं बख्शीश कोई कितनी भी करते हैं, धन की, मकान की, कपड़े आदि की करते हैं, वह हुआ दान-पुण्य अल्पकाल के लिए। मनुष्य, मनुष्य को देते हैं। साहूकार गरीब को अथवा साहूकार, साहूकार को देते आये हैं। परन्तु यह तो है शान्ति और सुख स्थायी। यहाँ तो कोई एक जन्म के लिए भी सुख-शान्ति नहीं दे सकते क्योंकि उनके पास है ही नहीं। देने वाला एक ही बाप है। उनको सुख-शान्ति-पवित्रता का सागर कहा जाता है। ऊंच ते ऊंच भगवान की ही महिमा गाई जाती है। समझते हैं उनसे ही शान्ति मिलेगी। फिर वह साधू-सन्त आदि पास जाते हैं क्योंकि भक्ति मार्ग है ना तो फेरा फिराते रहते हैं। वह सब है अल्पकाल के लिए पुरूषार्थ। तुम बच्चों का अभी वह सब बन्द हो जाता है। तुम लिखते भी हो बेहद के बाप से 100 प्रतिशत पवित्रता, सुख, शान्ति का वर्सा पा सकते हो। यहाँ 100 प्रतिशत अपवित्रता, दु:ख, अशान्ति है। परन्तु मनुष्य समझते नहीं। कहते ऋषि-मुनि आदि तो पवित्र हैं। परन्तु पैदाइस तो फिर भी विष से होती है ना। मूल बात ही यह है। रावण राज्य में पवित्रता हो न सके। पवित्रता-सुख आदि सबका सागर एक ही बाप है।

तुम जानते हो हमको शिवबाबा से 21 जन्म अर्थात् आधाकल्प 2500 वर्ष के लिए वर्सा मिलता है। यह तो गैरन्टी है। आधाकल्प सुखधाम, आधाकल्प है दु:खधाम। सृष्टि के दो भाग हैं – एक नई, एक पुरानी। परन्तु नई कब, पुरानी कब होती है, यह भी जानते नहीं। झाड़ की आयु इतनी एक्यूरेट बता न सकें। अभी बाप द्वारा तुम इस झाड़ को जानते हो। यह 5 हज़ार वर्ष का पुराना झाड़ है, इनकी एक्यूरेट आयु का तुमको पता है, और जो झाड़ होते हैं उनकी आयु का किसको पता नहीं होता है, अन्दाज़ बता देते हैं। तूफान आया, झाड़ गिरा, आयु पूरी हो गई। मनुष्यों का भी अचानक मौत होता रहता है। इस बेहद के झाड़ की आयु पूरे 5 हज़ार वर्ष है। इसमें एक दिन न कम, न जास्ती हो सकता है। यह बना-बनाया झाड़ है। इसमें फ़र्क नहीं पड़ सकता। ड्रामा में जो सीन जिस समय चलनी है, उस समय ही चलेगी। हूबहू रिपीट होना है। आयु भी एक्यूरेट है। बाप को भी नई दुनिया स्थापन करने आना है। एक्यूरेट टाइम पर आते हैं। एक सेकेण्ड का भी उसमें फ़र्क नहीं पड़ सकता। यह भी अब तुम्हारी बेहद की बुद्धि हुई। तुम ही समझ सकते हो। पूरे 5 हज़ार वर्ष बाद बाप आकर प्रवेश करते हैं, इसलिए शिवरात्रि कहते हैं। कृष्ण के लिए जन्माष्टमी कहते हैं। शिव की जन्माष्टमी नहीं कहते, शिव की रात्रि कहते हैं क्योंकि अगर जन्म हो तो फिर मौत भी हो। मनुष्यों का जन्म दिन कहेंगे। शिव के लिए हमेशा शिवरात्रि कहते हैं। दुनिया में इन बातों का कुछ भी पता नहीं। तुम समझते हो शिवरात्रि क्यों कहते हैं, जन्माष्टमी क्यों नही कहते। उनका जन्म दिव्य अलौकिक है, जो और कोई का हो नहीं सकता। यह कोई जानते नहीं – शिवबाबा कब, कैसे आते हैं। शिवरात्रि का अर्थ क्या है, तुम ही जानते हो। यह है बेहद की रात। भक्ति की रात पूरी हो दिन होता है। ब्रह्मा की रात और दिन तो फिर ब्राह्मणों का भी हुआ। एक ब्रह्मा का खेल थोड़ेही चलता है। अब तुम जानते हो, अब दिन शुरू होना है। पढ़ते-पढ़ते जाए अपने घर पहुँचेंगे, फिर दिन में आयेंगे। आधाकल्प दिन और आधाकल्प रात गाई जाती है परन्तु किसकी भी बुद्धि में नहीं आता। वो लोग तो कहेंगे कि कलियुग की आयु 40 हज़ार वर्ष बाकी है, सतयुग की लाखों वर्ष है फिर आधा-आधा का हिसाब ठहरता नहीं। कल्प की आयु को कोई भी जानते नहीं। तुम सारे विश्व के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। यह 5 हज़ार वर्ष के बाद सृष्टि चक्र लगाती रहती है। विश्व तो है ही, उनमें पार्ट बजाते-बजाते मनुष्य ही तंग हो जाते हैं। यह क्या आवागमन है। अगर 84 लाख जन्मों का आवागमन होता तो पता नहीं क्या होता। न जानने के कारण कल्प की आयु भी बढ़ा दी है। अभी तुम बच्चे बाप से सम्मुख पढ़ रहे हो। अन्दर में भासना आती है – हम प्रैक्टिकल में बैठे हैं। पुरूषोत्तम संगमयुग को भी जरूर आना है। कब आता है, कैसे आता है – यह कोई भी नहीं जानते। तुम बच्चे जानते हो तो कितना गद्गद् होना चाहिए। तुम्हीं कल्प-कल्प बाप से वर्सा लेते हो अर्थात् माया पर जीत पाते हो फिर हारते हो। यह है बेहद की हार और जीत। उन राजाओं की तो बहुत ही हार-जीत होती रहती है। अनेक लड़ाइयाँ लगती रहती हैं। छोटी-सी लड़ाई लगती है तो कह देते अब हमने जीता। क्या जीता? थोड़े से टुकड़े को जीता। बड़ी लड़ाई में हारते हैं तो फिर झण्डा गिरा देते हैं। पहले-पहले तो एक राजा होता है फिर और-और वृद्धि होते जाते हैं। पहले-पहले इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था फिर और राजायें आने शुरू हुए। जैसे पोप का दिखाते हैं। पहले एक था फिर नम्बरवार और पोप भी बैठते गये। किसकी मृत्यु का तो ठिकाना ही नहीं है ना।

तुम बच्चे जानते हो हमको बाबा अमर बना रहे हैं। अमरपुरी का मालिक बना रहे हैं, कितनी खुशी होनी चाहिए। यह है मृत्युलोक। वह है अमरलोक। इन बातों को नया कोई समझ न सके। उनको मज़ा नहीं आयेगा, जितना पुरानों को आयेगा। दिन-प्रतिदिन वृद्धि को पाते रहते हैं। निश्चय पक्का हो जाता है। इसमें सहनशीलता भी बहुत होनी चाहिए। यह तो आसुरी दुनिया है, दु:ख देने में देरी नहीं करते। तुम्हारी आत्मा कहती है हम अभी बाबा की श्रीमत पर चल रहे हैं। हम संगमयुग पर हैं। बाकी सब कलियुग में हैं। हम अभी पुरूषोत्तम बन रहे हैं। पुरूषों में उत्तम पुरूष पढ़ाई से ही बनते हैं। पढ़ाई से ही चीफ जस्टिस आदि बनते हैं ना। तुमको बाप पढ़ाते हैं। इस पढ़ाई से ही अपने पुरूषार्थ अनुसार पद पाते हो। जितना जो पढ़ेंगे उतना ग्रेड मिलेगी। इसमें राजाई की ग्रेड है। वैसे उस पढ़ाई में राजाई की ग्रेड नहीं होती है। तुम जानते हो हम राजाओं का राजा बन रहे हैं। तो अन्दर में कितनी खुशी होनी चाहिए। हम डबल सिरताज बहुत ऊंच बनते हैं। भगवान बाप हमको पढ़ाते हैं। कभी कोई समझ न सके कि निराकार बाप कैसे आकर पढ़ाते हैं। मनुष्य पुकारते भी हैं – हे पतित-पावन आकर हमको पावन बनाओ। फिर भी पावन बनते नहीं। बाप कहते हैं काम महाशत्रु है। तुम एक तरफ पुकारते हो कि पतित-पावन आओ, अब मैं आया हूँ कहता हूँ बच्चे पतितपना छोड़ दो, तो तुम छोड़ते क्यों नहीं। ऐसे थोड़ेही बाप तुमको पावन बनाये और तुम पतित बनते रहो। ढेर ऐसे पतित बनते हैं। कोई सत्य बताते हैं, बाबा यह भूल हो गई। बाबा कहते हैं कोई भी पाप कर्म हो जाए तो फौरन बताओ। कोई सच, कोई झूठ बोलते हैं। कौन पूछते हैं? मैं थोड़ेही एक-एक के अन्दर को बैठ जानूँगा, यह तो हो न सके। मैं आता ही हूँ सिर्फ राय देने। पावन नहीं बनेंगे तो तुम्हारा ही नुकसान है। मेहनत कर पावन से फिर पतित बन जायेंगे, तो की कमाई चट हो जायेगी। लज्जा आयेगी हम खुद ही पतित बन पड़े हैं फिर दूसरे को कैसे कहेंगे कि पावन बनो। अन्दर खायेगा कि हमने कितना फरमान का उल्लंघन किया। यहाँ तुम बाप से डायरेक्ट प्रतिज्ञा करते हो, जानते हो बाबा हमको सुखधाम-शान्तिधाम का मालिक बना रहे हैं। हाजिर नाजिर है, हम उनके सम्मुख बैठे हैं। इनमें पहले यह नॉलेज थोड़ेही थी। न कोई गुरू ही था – जिसने नॉलेज दी। अगर गुरू होता तो सिर्फ एक को ज्ञान देंगे क्या। गुरूओं के फालोअर्स तो बहुत होते हैं ना। एक थोड़ेही होगा। यह समझने की बातें हैं ना। सतगुरू है ही एक। वह हमको रास्ता बताते हैं। हम फिर दूसरों को बताते हैं। तुम सबको कहते हो – बाप को याद करो। बस। ऊंच ते ऊंच बाप को याद करने से ही ऊंच पद मिलेगा। तुम राजाओं के राजा बनते हो। तुम्हारे पास अनगिनत धन होगा। तुम अपनी झोली भरते हो ना। तुम जानते हो बाबा हमारी झोली खूब भर रहे हैं। कहते हैं कुबेर के पास बहुत धन था। वास्तव में तुम हर एक कुबेर हो। तुमको वैकुण्ठ रूपी खजाना मिल जाता है। खुदा दोस्त की भी कहानी है। उनको जो पहले मिलता था उसको एक दिन के लिए बादशाही देते थे। यह सब दृष्टान्त हैं। अल्लाह माना बाप, वह अवलदीन रचता है। फिर साक्षात्कार हो जाता है। तुम जानते हो बरोबर हम योगबल से विश्व की बादशाही लेते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस आसुरी दुनिया में बहुत-बहुत सहनशील बनकर रहना है। कोई गाली दे, दु:ख दे तो भी सहन करना है। बाप की श्रीमत कभी नहीं छोड़नी है।

2) डायरेक्ट बाप ने पावन बनने का फरमान किया है इसलिए कभी भी पतित नहीं बनना है। कभी कोई पाप हो तो छिपाना नहीं है।

वरदान:- परमात्म मिलन द्वारा रूहरिहान का सही रेसपान्स प्राप्त वाले बाप समान बहुरूपी भव
जैसे बाप बहुरूपी है – सेकण्ड में निराकार से आकारी वस्त्र धारण कर लेते हैं, ऐसे आप भी इस मिट्टी की ड्रेस को छोड़ आकारी फरिश्ता ड्रेस, चमकीली ड्रेस पहन लो तो सहज मिलन भी होगा और रूहरिहान का क्लीयर रेसपान्स समझ में आ जायेगा क्योंकि यह ड्रेस पुरानी दुनिया की वृत्ति और वायब्रेशन से, माया के वाटर या फायर से प्रूफ है, इसमें माया इन्टरफि-रयर नहीं कर सकती।
स्लोगन:- दृढ़ता असम्भव से भी सम्भव करा देती है।

TODAY MURLI 31 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 31 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 30 October 2019:- Click Here

31/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come here as the Boatman to remove the boats of all of you from the ocean of poison and to take you to the ocean of milk. You now have to go from this side to the other side.
Question: By observing the part of each one, why can you children not defame anyone?
Answer: Because you know that this drama is eternally predestined. Each actor is playing his own part within it. No one can be blamed for anything. This path of devotion has to be passed through again. There cannot be the slightest change in that.
Question: In which two words is the knowledge of the whole cycle merged?
Answer: Today and tomorrow. Yesterday, we were in the golden age. Today, having been around the cycle of 84 births, we have reached hell and, tomorrow, we will go to heaven again.

Om shanti. Children are sitting in front of Baba. From where you come, when you are at those centres, you don’t think that you are personally sitting in front of Baba, the Highest on High. He is our Teacher, He is the One who will take our boats across. He is also called the Guru. Here, you understand that you are personally sitting in front of Him. He is removing us from this ocean of poison and taking us to the ocean of milk. The Father who takes you across is sitting personally in front of you. Only the soul of Father Shiva is called the Supreme and God, the Highest on High. You children understand that you are now sitting in front of Shiv Baba, God, the Highest on High. He is sitting in this one (the body of Brahma). He takes you across. He definitely needs a chariot. How else could He also give you shrimat? You children now have the faith that Baba is your Father, Teacher and the One who takes you across. We souls are now going to go back to our home, the land of peace. That Baba is showing us the path. There is the difference of day and night between sitting there, at a centre, and sitting here, personally, in front of Baba. There, you would not think that you are sitting personally in front of Baba. Here, you feel that you are now making effort. The One who is inspiring you to make effort will be pleased. We are now becoming pure and going back home. Actors in a play understand when the play has ended. The Father has now come to take us souls back. He also explains how you can go back home. He is the Father and also the Boatman who takes the boat across. Although those people sing this, they don’t understand what they refer to when they say “boat”. Will He take the body? You now know that He takes us souls across. Souls, along with their bodies are now lying in the brothel, in the river of poison. We were originally residents of the land of peace. We have found the Father who will take us across, that is, who will take us back home. It used to be your kingdom. Then, Maya, Ravan, snatched that away. That kingdom definitely has to be claimed back. The unlimited Father says: Children, now remember your home. You have to go there and then go back to the ocean of milk. Here, it is the ocean of poison and there, it is the ocean of milk. The incorporeal world is the ocean of peace. There are three lands. This is the land of sorrow. The Father explains: Sweetest children, consider yourselves to be souls and remember the Father. Who is telling you this and through whom does He tell you? Throughout the day, He continues to say to you: Sweet children, sweet children! Souls are now impure and they receive bodies accordingly. You now understand that you were ornaments of real gold and that, after alloy was mixed into you, you became false. Now, how can that falsehood be removed? This is called the furnace of the pilgrimage of remembrance. It becomes real gold in the fire. The Father repeatedly explains to you: I give you the explanation that I have been giving to you every cycle. My part is to come after 5000 years and tell you: Children, become pure! You souls were pure in the golden age. Souls remain pure in the land of peace. That is our home. That is such a sweet home. People beat their heads so much in order to go there. The Father explains: Everyone now has to go back and then they have to come back here to play their parts. You children have understood that when you are unhappy, you say: O God, call us to You! Why have you left us here in sorrow? You know that the Father resides in the supreme abode, and so you say: O God, call us to the supreme abode! You would not say this in the golden age. There, there is nothing but happiness. Here, there are so many types of sorrow and this is why people call out: Oh God! Souls have remembrance, but they don’t know God at all. You children have now received the Father’s introduction. The Father resides in the supreme abode. People have been remembering the home. They would never say: Call us to the kingdom. They would never ask for the kingdom. The Father doesn’t even reside in the kingdom. He only resides in the land of peace. Everyone asks for peace. There would definitely be peace with God in the supreme abode. That is also called the land of liberation. That is the residence of souls. Souls come from there. The golden age is not called the home; it is the kingdom. You have now come here from so many different places. You have come and are sitting here personally. The Father talks to you, saying: “Children, children!” As the Father, He calls you “Children, children”, and then, as the Teacher, He explains the secrets of the beginning, middle and end of the world to you, that is, He explains the history and geography to you. These things are not mentioned in any of the scriptures. You children know that the incorporeal world is the home of you souls. The subtle region is a matter of divine visions. However, the golden, silver, copper and iron ages only exist here. It is here that you play your parts. There are no parts played in the subtle region. That is just a matter of visions. You should have today and tomorrow in your intellects very clearly. Yesterday, we were in the golden age and, having taken 84 births, today were in hell. You call the Father into hell. In the golden age, there is an abundance of happiness and so no one calls Him there. Here, you are in bodies and that is why you are able to speak to Him. The Father says: I am also Janijananhar (The One who knows everything), that is, I know the beginning, middle and end of the world but, how can I narrate that to you? This is something to think about. This is why it is written that the Father adopts a chariot. He says: My birth is not like yours. I enter this one. He also gives you the introduction of the chariot. This soul has become tamopradhan whilst adopting names and forms. At this time, all are orphans. Because they do not know the Father, they are all orphans. When children fight amongst themselves, it is said: Girls and boys, why are you fighting amongst yourselves? The Father says: Everyone has forgotten Me. It is the soul that says: Girls and boys. The physical father says this and the unlimited Father also says: Orphans, why has your condition become like this? Do you not have someone to whom you belong? You say of the unlimited Father, who makes you into the masters of heaven, the One you have been calling out to for half the cycle that He is in the pebbles and stones! The Father now personally sits here and explains to you. You children now understand that you have come to Baba. That Baba is the One who teaches us and takes the boats across because these boats have become very old. People say: Take this boat across and give us a new boat. An old boat is dangerous. It might break up on the way or have an accident. So, you say that your boat has become old and you ask for a new one. It (body) is called a costume or a boat. Children say: Baba, we want costumes like those (of Lakshmi and Narayan). The Father says: Sweetest children, do you want to become residents of heaven? Every 5000 years, these clothes of yours become old and I then give you new ones. These are devilish costumes. Souls are also devilish. When people are poor, they wear cheap clothes. If they are wealthy, they wear very expensive clothes. You know these things at this time. Here, you are intoxicated knowing in front of whom you are sitting. When you are sitting there at your centres, you don’t have this feeling. Here, when you listen to the Father personally, you feel happy because the Father explains to you directly. When someone explains to you there, your intellects’ yoga continually wanders. It is said: People remain trapped in mundane business; they don’t have any time. I am explaining to you. You too understand that Baba is explaining to you through this mouth. There is so much praise of this mouth. People stumble from so far away to drink the nectar at the Gaumukh. They come with so much difficulty; they don’t even understand what that Gaumukh is. So many sensible people go there, but what is the benefit of it? Even more time is wasted. Baba says: What do you see in the sunset? There is no benefit in it. There is benefit in studying. There is a study in the Gita. There is no mention of hatha yoga in the Gita. Only Raj Yoga is mentioned in it. You come here to claim the kingdom. You know how much fighting and quarrelling etc. there is in this devilish world. Baba is purifying us with the power of yoga and making us into the masters of the world. People have shown goddesses with weapons etc., but, in fact, there is no question of weapons in this. Look how fearsome they have made the image of Kali! They have made all of those images from their own imagination. There wouldn’t be such goddesses with four or eight arms. All of that is in the path of devotion. Therefore, the Father explains: This is an unlimited play. There is no question of defaming anyone in this. The eternal drama is predestined. It cannot be any different. The Father explains what is called knowledge and what is called devotion. You still have to pass through the path of devotion. Whilst going around the cycle of 84 in this way, you come down. This is the very good, eternally created drama which the Father explains to you. By understanding the secrets of this drama, you become the masters of the world. It is a wonder! How devotion continues and how knowledge continues is all predestined in the play. There cannot be any change in that. They say that so-and-so merged into the brahm element, or merged into the light, that this is a world of thoughts. People continue to say whatever enters their minds. This play is predestined. People go to watch films. Would you call that a play of thoughts? The Father sits here and explains: Children, this play is unlimited and it will repeat identically. Only the Father comes and gives this knowledge because He is knowledge-full. He is the Seed of the human world tree. He is living. He has all the knowledge. People have shown the duration to be hundreds of thousands of years. The Father says: The duration cannot be that long. If a film were hundreds of thousands of years long, it would not sit in anyone’s intellect. You speak about everything. How could you speak of something that is hundreds of thousands of years long? Therefore, all of that is of the path of devotion. You are ones who played parts on the path of devotion. After experiencing sorrow in that way, everyone has reached the end. The whole tree has reached a state of total decay. You now have to go back there. Make yourself light. This one too has made himself light. All bondages will then break. Otherwise, you will remember your children, wealth, factories, customers, kings and their property etc. If you have left your business, why would you remember all of that? Here, you have to forget everything. Forget all of that and remember your home and the kingdom. Remember the land of peace and the land of happiness. We will then have to go down there from the land of peace. The Father says: Remember Me. This is called the fire of yoga. This is Raj Yoga. You are Raj Rishis. Pure ones are called Rishis. You become pure in order to attain a kingdom. Only the Father tells you the whole truth. You also understand that this is a play. All the actors definitely have to be here. The Father will then take everyone back. This is God’s bridal procession. The Father and the children reside there, and then the children come down to play their parts here. The Father always resides there. People only remember Me at times of sorrow. What would I do there (in the golden age)? I sent you to the land of peace and the land of happiness, so what else is needed? When you were in the land of happiness, all the rest of the souls were in the land of peace, and then they continued to come down, numberwise. The play has now come to an end. The Father says: Children, do not be careless now. You definitely do have to become pure. The Father says: This part is being played according to the same drama. According to the drama, I come for you every cycle. You now have to go to the new world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. This tree has now become old and decayed. Souls now have to return home. Therefore, free yourself from all bondages and make yourself light. Remove everything of here from your intellect.
  2. Keep the eternal drama in your intellect and do not defame any actor. Understand the secrets of the drama and become a master of the world.
Blessing: May you be a fortunate soul who experiences pleasure with the company of the intellect and co-operation of the hand.
The sign of co-operation is portrayed with a hand in a hand. To be constantly co-operative with the Father is to have your hand in His hand and to stay constantly in His company with the intellect means to have love for One in your heart. Always have the awareness that you are walking in a Godly garden, hand in hand with Him. By doing so, you will constantly be entertained, constantly be happy and full. Such fortunate souls constantly continue to experience pleasure.
Slogan: The way to accumulate in your account of blessings is to remain content and make others content.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 31 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 October 2019

To Read Murli 30 October 2019:- Click Here
31-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप खिवैया बन आया है तुम सबकी नईया को विषय सागर से निकाल क्षीर सागर में ले जाने, अभी तुमको इस पार से उस पार जाना है”
प्रश्नः- तुम बच्चे हर एक का पार्ट देखते हुए किसकी भी निंदा नहीं कर सकते हो – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि तुम जानते हो यह अनादि बना-बनाया ड्रामा है, इसमें हर एक एक्टर अपना-अपना पार्ट बजा रहे हैं। किसी का भी कोई दोष नहीं है। यह भक्ति मार्ग भी फिर से पास होना है, इसमें जरा भी चेन्ज नहीं हो सकती।
प्रश्नः- किन दो शब्दों में सारे चक्र का ज्ञान समाया हुआ है?
उत्तर:- आज और कल। कल हम सतयुग में थे, आज 84 जन्मों का चक्र लगाकर नर्क में पहुँचे, कल फिर स्वर्ग में जायेंगे।

ओम् शान्ति। अब बच्चे सामने बैठे हैं, जहाँ से आते हैं वहाँ अपने सेन्टर्स पर जब रहते हैं तो वहाँ ऐसे नहीं समझेंगे कि हम ऊंच ते ऊंच बाबा के सम्मुख बैठे हैं। वही हमारा टीचर भी है, वही हमारी नईया को पार लगाने वाला है, जिसको ही गुरू कहते हैं। यहाँ तुम समझते हो हम सम्मुख बैठे हैं, हमको इस विषय सागर से निकाल क्षीर सागर में ले जाते हैं। पार ले जाने वाला बाप भी सम्मुख बैठा है, वह एक ही शिव बाप की आत्मा है, जिसको ही सुप्रीम अथवा ऊंच ते ऊंच भगवान् कहा जाता है। अभी तुम बच्चे समझते हो हम ऊंच ते ऊंच भगवान् शिवबाबा के सामने बैठे हैं। वह इसमें (ब्रह्मा तन में) बैठे हैं, वह तुमको पार भी पहुँचाते हैं। उनको रथ भी जरूर चाहिए ना। नहीं तो श्रीमत कैसे दें। अभी तुम बच्चों को निश्चय है – बाबा हमारा बाबा भी है, टीचर भी है, पार ले जाने वाला भी है। अभी हम आत्मायें अपने घर शान्तिधाम में जाने वाली हैं। वह बाबा हमको रास्ता बता रहे हैं। वहाँ सेन्टर्स पर बैठने और यहाँ सम्मुख बैठने में रात-दिन का फ़र्क है। वहाँ ऐसे नहीं समझेंगे कि हम सम्मुख बैठे हैं। यहाँ यह महसूसता आती है। अभी हम पुरूषार्थ कर रहे हैं। पुरू-षार्थ कराने वाले को खुशी रहेगी। अभी हम पावन बनकर घर जा रहे हैं। जैसे नाटक के एक्टर्स होते हैं तो समझते हैं अब नाटक पूरा हुआ। अभी बाप आये हैं हम आत्माओं को ले जाने। यह भी समझाते हैं तुम घर कैसे जा सकते हो, वह बाप भी है, नईया को पार करने वाला खिवैया भी है। वह लोग भल गाते हैं परन्तु समझते कुछ भी नहीं हैं कि नईया किसको कहा जाता है, क्या वह शरीर को ले जायेगा? अभी तुम बच्चे जानते हो हमारी आत्मा को पार ले जाते हैं। अभी आत्मा इस शरीर के साथ वेश्यालय में विषय वैतरणी नदी में पड़ी है। हम असल रहवासी शान्तिधाम के थे, हमको पार ले जाने वाला अर्थात् घर ले जाने वाला बाप मिला है। तुम्हारी राजधानी थी जो माया रावण ने सारी छीन ली है। वह राजधानी फिर जरूर लेनी है। बेहद का बाप कहते हैं – बच्चों, अब अपने घर को याद करो। वहाँ जाकर फिर क्षीरसागर में आना है। यहाँ है विष का सागर, वहाँ है क्षीर का सागर और मूलवतन है शान्ति का सागर। तीनों धाम हैं। यह तो है दु:खधाम।

बाप समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। कहने वाला कौन है, किस द्वारा कहते हैं? सारा दिन ‘मीठे-मीठे बच्चे’ कहते रहते हैं। अभी आत्मा पतित है, जिस कारण फिर शरीर भी ऐसा मिलेगा। अभी तुम समझते हो हम पक्के-पक्के सोने के जेवर थे फिर खाद पड़ते-पड़ते झूठे बन गये हैं। अब वह झूठ कैसे निकले, इसलिए यह याद के यात्रा की भट्ठी है। अग्नि में सोना पक्का होता है ना। बाप बार-बार समझाते हैं, यह समझानी जो तुमको देता हूँ, हर कल्प देता आया हूँ। हमारा पार्ट है फिर 5 हज़ार वर्ष के बाद आकर कहता हूँ कि बच्चे पावन बनो। सतयुग में भी तुम्हारी आत्मा पावन थी, शान्तिधाम में भी पावन आत्मा रहती है। वह तो है हमारा घर। कितना स्वीट घर है। जहाँ जाने के लिए मनुष्य कितना माथा मारते हैं। बाप समझाते हैं अभी सबको जाना है फिर पार्ट बजाने के लिए आना है। यह तो बच्चों ने समझा है। बच्चे जब दु:खी होते हैं तो कहते हैं – हे भगवान, हमें अपने पास बुलाओ। हमको यहाँ दु:ख में क्यों छोड़ा है। जानते हैं बाप परमधाम में रहते हैं। तो कहते हैं – हे भगवान, हमको परमधाम में बुलाओ। सतयुग में ऐसे नहीं कहेंगे। वहाँ तो सुख ही सुख है। यहाँ अनेक दु:ख हैं तब पुकारते हैं – हे भगवान! आत्मा को याद रहती है। परन्तु भगवान को जानते बिल्कुल नहीं हैं। अभी तुम बच्चों को बाप का परिचय मिला है। बाप रहते ही हैं पर-मधाम में। घर को ही याद करते हैं। ऐसे कभी नहीं कहेंगे राजधानी में बुलाओ। राजधानी के लिए कभी नहीं कहेंगे। बाप तो राजधानी में रहते भी नहीं। वह रहते ही हैं शान्तिधाम में। सब शान्ति मांगते हैं। परमधाम में भगवान के पास तो जरूर शान्ति ही होगी, जिसको मुक्तिधाम कहा जाता है। वह है आत्माओं के रहने का स्थान, जहाँ से आत्मायें आती हैं। सतयुग को घर नहीं कहेंगे, वह है राजधानी। अब तुम कहाँ-कहाँ से आये हो। यहाँ आकर सम्मुख बैठे हो। बाप ‘बच्चे-बच्चे’ कह बात करते हैं। बाप के रूप में बच्चे-बच्चे भी कहते हैं फिर टीचर बन सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ अथवा हिस्ट्री-जॉग्राफी समझाते हैं। यह बातें कोई शास्त्रों में नहीं हैं। तुम बच्चे जानते हो मूलवतन है हम आत्माओं का घर। सूक्ष्मवतन तो है ही दिव्य दृष्टि की बात। बाकी सतयुग, त्रेता, द्वापर, कलियुग तो यहाँ ही होता है। पार्ट भी तुम यहाँ बजाते हो। सूक्ष्मवतन का कोई पार्ट नहीं। यह साक्षात्कार की बात है। कल और आज, यह तो अच्छी रीति बुद्धि में होना चाहिए। कल हम सतयुग में थे फिर 84 जन्म लेते-लेते आज नर्क में आ गये हैं। बाप को बुलाते भी नर्क में हैं। सतयुग में तो अथाह सुख हैं, तो कोई बुलाते ही नहीं। यहाँ तुम शरीर में हो तब बात करते हो। बाप भी कहते हैं मैं जानी जाननहार हूँ अर्थात् सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानता हूँ। परन्तु सुनाऊं कैसे! विचार की बात है ना इस-लिए लिखा हुआ है – बाप रथ लेते हैं। कहते हैं मेरा जन्म तुम्हारे सदृश्य नहीं है। मैं इसमें प्रवेश करता हूँ। रथ का भी परिचय देते हैं। यह आत्मा भी नाम-रूप धारण करते-करते तमोप्रधान बनी है। इस समय सब छोरे हैं, क्योंकि बाप को जानते नहीं हैं। तो सब छोरे और छोरियाँ हो गये। आपस में लड़ते हैं तो कहते हैं ना – छोरे-छोरियां लड़ते क्यों हो! तो बाप कहते हैं मुझे तो सब भूल गये हैं। आत्मा ही कहती है छोरे-छोरियां। लौकिक बाप भी ऐसे कहते हैं, बेहद का बाप भी कहते हैं छोरे-छोरियां यह हाल क्यों हुआ है? कोई धनी धोणी है? तुमको बेहद का बाप जो स्वर्ग का मालिक बनाते हैं, जिसको तुम आधाकल्प से पुकारते आये हो, उनके लिए कहते हो ठिक्कर भित्तर में है। बाप अब सम्मुख बैठ समझाते हैं। अभी तुम बच्चे समझते हो हम बाबा के पास आये हैं। यह बाबा ही हमको पढ़ाते हैं। हमारी नईया पार करते हैं क्योंकि यह नईया बहुत पुरानी हो गई है। तो कहते हैं इनको पार लगाओ फिर हमको नई दो। पुरानी नईया ख़ौफनाक होती है। कहाँ रास्ते में टूट पड़े, एक्सीडेंट हो जाए। तो तुम कहते हो हमारी नईया पुरानी हो गई है, अब हमें नई दो। इनको वस्त्र भी कहते हैं, नईया भी कहते हैं। बच्चे कहते बाबा हमको तो ऐसे (लक्ष्मी-नारायण) वस्त्र चाहिए।

बाप कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, स्वर्गवासी बनने चाहते हो? हर 5 हज़ार वर्ष बाद तुम्हारे यह कपड़े पुराने होते हैं फिर नया देता हूँ। यह है आसुरी चोला। आत्मा भी आसुरी है। मनुष्य गरीब होगा तो कपड़े भी गरीबी के पहनेंगे। साहूकार होगा तो कपड़े भी साहूकारी के पहनेंगे। यह बातें अभी तुम जानते हो। यहाँ तुमको नशा चढ़ता है हम किसके सामने बैठे हैं। सेन्टर्स पर बैठते हो तो वहाँ तुमको यह भासना नहीं आयेगी। यहाँ सम्मुख होने से खुशी होती है क्योंकि बाप डायरेक्ट बैठ समझाते हैं। वहाँ कोई समझायेगा तो बुद्धियोग कहाँ-कहाँ भागता रहेगा। कहते हैं ना – गोरखधन्धे में फंसे रहते हैं। फुर्सत कहाँ मिलती है। मैं तुमको समझा रहा हूँ। तुम भी समझते हो – बाबा इस मुख द्वारा हमको समझाते हैं। इस मुख की भी कितनी महिमा है। गऊमुख से अमृत पीने के लिए कहाँ-कहाँ जाकर धक्के खाते हैं। कितनी मेहनत से जाते हैं। मनुष्य समझते ही नहीं हैं कि यह गऊमुख क्या है? कितने बड़े समझदार मनुष्य वहाँ जाते हैं, इसमें फायदा क्या? और ही टाइम वेस्ट होता है। बाबा कहते हैं यह सूर्यास्त आदि क्या देखेंगे। फायदा तो इनमें कुछ नहीं। फायदा होता ही है पढ़ाई में। गीता में पढ़ाई है ना। गीता में कोई भी हठयोग आदि की बात नहीं। उसमें तो राजयोग है। तुम आते भी हो राजाई लेने के लिए। तुम जानते हो इस आसुरी दुनिया में तो कितने लड़ाई-झगड़े आदि हैं। बाबा तो हमको योगबल से पावन बनाए विश्व का मालिक बना देते हैं। देवियों को हथियार दे दिये हैं परन्तु वास्तव में इसमें हथियारों आदि की कोई बात है नहीं। काली को देखो कितना भयानक बनाया है। यह सब अपने-अपने मन की भ्रान्तियों से बैठ बनाया है। देवियां कोई ऐसी 4-8 भुजाओं वाली थोड़ेही होंगी। यह सब भक्ति मार्ग है। सो बाप समझाते हैं – यह एक बेहद का नाटक है। इसमें कोई की निंदा आदि की बात नहीं। अनादि ड्रामा बना हुआ है। इसमें फ़र्क कुछ भी पड़ता नहीं है। ज्ञान किसको कहा जाता, भक्ति किसको कहा जाता, यह बाप समझाते हैं। भक्ति मार्ग से फिर भी तुमको पास करना पड़ेगा। ऐसे ही तुम 84 का चक्र लगाते-लगाते नीचे आयेंगे। यह अनादि बना-बनाया बड़ा अच्छा नाटक है जो बाप समझाते हैं। इस ड्रामा के राज़ को सम-झने से तुम विश्व के मालिक बन जाते हो। वन्डर है ना! भक्ति कैसे चलती है, ज्ञान कैसे चलता है, यह खेल अनादि बना हुआ है। इसमें कुछ भी चेन्ज नहीं हो सकता। वह तो कह देते ब्रह्म में लीन हो गया, ज्योति ज्योत समाया, यह संकल्प की दुनिया है, जिसको जो आता है वह कहते रहते हैं। यह तो बना-बनाया खेल है। मनुष्य बाइसकोप देखकर आते हैं। क्या उसको संकल्प का खेल कहेंगे? बाप बैठ समझाते हैं – बच्चे, यह बेहद का नाटक है जो हूबहू रिपीट होगा। बाप ही आकर यह नॉलेज देते हैं क्योंकि वह नॉलेजफुल है। मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है, चैतन्य है, उनको ही सारी नॉलेज है। मनुष्यों ने तो लाखों वर्ष आयु दिखा दी है। बाप कहते हैं इतनी आयु थोड़ेही हो सकती है। बाइसकोप लाखों वर्ष का हो तो कोई की बुद्धि में नहीं बैठे। तुम तो सारा वर्णन करते हो। लाखों वर्ष की बात कैसे वर्णन करेंगे। तो वह सब है भक्ति मार्ग। तुमने ही भक्ति मार्ग का पार्ट बजाया। ऐसे-ऐसे दु:ख भोगते-भोगते अब अन्त में आ गये हो। सारा झाड़ जड़जड़ीभूत अवस्था को पाया हुआ है। अब वहाँ जाना है। अपने को हल्का कर दो। इसने भी हल्का कर दिया ना। तो सब बन्धन टूट जाएं। नहीं तो बच्चे, धन, कारखाने, ग्राहक, राजे, रजवाड़े आदि याद आते रहेंगे। धन्धा ही छोड़ दिया तो फिर याद क्यों आयेंगे। यहाँ तो सब कुछ भूलना है। इनको भूल अपने घर और राजधानी को याद करना है। शान्तिधाम और सुखधाम को याद करना है। शान्तिधाम से फिर हमको यहाँ आना पड़े। बाप कहते हैं मुझे याद करो, इनको ही योग अग्नि कहा जाता है। यह राजयोग है ना। तुम राजऋषि हो। ऋषि पवित्र को कहा जाता है। तुम पवित्र बनते हो राजाई के लिए। बाप ही तुम्हें सब सत्य बताते हैं। तुम भी समझते हो यह नाटक है। सब एक्टर्स यहाँ जरूर होने चाहिए। फिर बाप सबको ले जायेंगे। यह ईश्वर की बरात है ना। वहाँ बाप और बच्चे रहते हैं फिर यहाँ आते हैं पार्ट बजाने। बाप तो सदैव वहाँ रहते हैं। मुझे याद ही दु:ख में करते हैं। वहाँ फिर मैं क्या करूँगा। तुमको शान्तिधाम, सुखधाम में भेजा बाकी क्या चाहिए! तुम सुखधाम में थे बाकी सब आत्मायें शान्तिधाम में थी फिर नम्बरवार आते गये। नाटक आकर पूरा हुआ। बाप कहते हैं – बच्चे, अब ग़फलत मत करो। पावन तो जरूर बनना है। बाप कहते हैं यह वही ड्रामा अनुसार पार्ट बज रहा है। तुम्हारे लिए ड्रामा अनुसार मैं कल्प-कल्प आता हूँ। नई दुनिया में अब चलना है ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अब यह झाड़ पुराना जड़जड़ीभूत हो गया है, आत्मा को वापस घर जाना है इसलिए अपने को सब बन्धनों से मुक्त कर हल्का बना लेना है। यहाँ का सब कुछ बुद्धि से भूल जाना है।

2) अनादि ड्रामा को बुद्धि में रख किसी भी पार्टधारी की निंदा नहीं करनी है। ड्रामा के राज़ को समझ विश्व का मालिक बनना है।

वरदान:- बुद्धि के साथ और सहयोग के हाथ द्वारा मौज का अनुभव करने वाले खुशनसीब आत्मा भव
जैसे सहयोग की निशानी हाथ में हाथ दिखाते हैं। ऐसे बाप के सदा सहयोगी बनना – यह है हाथ में हाथ और सदा बुद्धि से साथ रहना अर्थात् मन की लग्न एक में हो। सदा यही स्मृति रहे कि गाडली गार्डन में हाथ में हाथ देकर साथ-साथ चल रहे हैं। इससे सदा मनोरंजन में रहेंगे, सदा खुश और सम्पन्न रहेंगे। ऐसी खुशनसीब आत्मायें सदा ही मौज का अनुभव करती रहती हैं।
स्लोगन:- दुआओं का खाता जमा करने का साधन है – सन्तुष्ट रहना और सन्तुष्ट करना।

TODAY MURLI 31 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 October 2018 :- Click Here

31/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you souls have your own chariots. I am incorporeal. Only once in the cycle do I need a chariot. I borrow the old experienced chariot of Brahma.
Question: On the basis of what faith is it very easy to forget the awareness of the body?
Answer: You children have said with faith: Baba, I now belong to You. Therefore, to belong to the Father means to forget the awareness of your body. Just as Shiv Baba enters this chariot and then leaves, in the same way, you children also have to practi s e entering your chariots and then leaving. Practise becoming bodiless. It shouldn’t be difficult to do this. Consider yourselves to be incorporeal souls and remember the Father.
Song: Salutations to Shiva. 

Om shanti. Shiv Baba explains to you children through this chariot of Brahma. The Father tells you children: I do not have a chariot of My own. I definitely do need a chariot, just as each of you souls has a chariot of your own. Brahma, Vishnu and Shankar also have their subtle bodies. Lakshmi and Narayan etc. and all souls definitely have their bodies as chariots. They are also called horses. They are, in fact, human beings. Everything that is explained to you is about human beings. Animals would know about animals. This is the human world and so the Father sits here and explains to human beings. He sits and explains to the souls in human forms. He asks you directly: Each of you has your own body, do you not? Every soul takes a body and sheds it. People say that souls take 8.4 million births. This is a mistake, because you become completely tired when you just take 84 births. You have become so distressed. So, there is no question of 8.4 million births. Those are lies told by human beings. Therefore, the Father explains: You souls have your own chariots. I too need a chariot. I am your unlimited Father. You sing: O Purifier, Ocean of Knowledge. You would not call anyone else the Purifier. You would not call Lakshmi and Narayan etc. that. It cannot be anyone except the Supreme Father, the Supreme Soul, who makes the impure world pure, that is, who is the Creator of the pure world of heaven. He alone is the Supreme Father. The Father knows that, from being those with stone intellects, you are becoming those with divine intellects, numberwise. People outside do not know this. The Father explains: I too definitely need a chariot. I, the Purifier, definitely have to come into the impure world. When the plague spreads everywhere, doctors have to go to those who have the plague. The Father says: You have had the illness of the five vices in you for half the cycle. Human beings only cause sorrow. You have become completely impure with those five vices. Therefore, the Father explains: I have to come into the impure world. Those who are impure are called corrupt whereas those who are pure are called elevated. Truly, your Bharat was pure and elevated when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. You sing praise of it: Full of all virtues… Everyone there was happy. It is a matter of only yesterday. The Father says: When I come, how do I come? In whose body would I come? First of all, I need Prajapita. How could the one who is a resident of the subtle region be brought here? He is an angel. It would be a crime if I were to bring him into the impure world. He would say: What crime have I committed? The Father explains very entertaining things to you. Only those who belong to the Father will understand these things. They will repeatedly continue to remember the Father. The Father says: I come when sin has increased on earth. In the iron age, people commit so much sin. So the Father asks: Children, tell Me: if I come, in whose body should I come? I surely need an old experienced chariot. The one whose chariot I have chosen has truly adopted many gurus. He has studied the scriptures etc. It is also written that he was very well educated. It is nothing to do with Arjuna. I do not need the chariot of Arjuna or Krishna. I need the chariot of Brahma. Only he can be called Prajapita. Krishna cannot be called Prajapita. The Father only wants the chariot of Brahma through which he can create the Brahmin people. The Brahmin clan is the most elevated clan. They show the variety-form image. There are the deities, warriors, merchants and shudras and so where did the Brahmins go? No one knows this. The highest of all is the topknot of brahmins. Only when they have a topknot can it be understood that they are brahmins. Yours is the true topknot. You are Raj Rishis, those with big topknots. Those who remain pure are called Rishis. You are Raj Yogis, Raj Rishis. You are doing tapasya for a kingdom. Those people do hatha yoga tapasya to attain liberation. You are doing Raja Yoga tapasya for liberation-in-life, for the kingdom. Your name is Shiv Shaktis. Shiv Baba makes you re-incarnate. So you take birth in Bharat once again. You have taken birth, have you not? Although some have taken a new birth, they don’t understand that they belong to Shiv Baba or that they have taken birth to Him. If they were to understand this, they would completely forget the awareness of their bodies. Just as incorporeal Shiv Baba is in this chariot, in the same way, you also have to consider yourselves to be incorporeal souls. The Father says: Children, remember Me. You now have to return home. At first you were bodiless, then you took deity bodies, then warrior bodies, then a merchant bodies and then shudra bodies. You now have to become bodiless once again. You say to Me, the incorporeal One: Baba, I now belong to You. I want to return home. You are not going to take those bodies with you. O souls, now remember Me, your Father, and your sweet home. When people have gone abroad and are about to come back from there, they say: Let’s go back to our s w eet home in Bharat. Let’s go back to where we took birth. When a person dies, they take his body back to the place he took birth. They believe that since he was created out of the soil of Bharat, he should also leave his soil (body) there. The Father says: My birth too is in Bharat. People celebrate Shiv Jayanti. They have given Me many names. They say: Har Har Mahadev (Mahadev, the One who removes everyone’s sorrow.) He is the One who removes everyone’s sorrow. I, not Shankar, am that. Brahma is present on service. The one who carries out establishment will, in the dual-form of Vishnu, carry out sustenance. I definitely need Prajapita Brahma. There is truly the temple to Adi Dev. Whose child is Adi Dev? Can anyone tell Me? Even the trustees of the Dilwala Temple don’t know who Adi Dev was or who his Father was. Adi Dev is Prajapita Brahma and his Father is Shiva. That temple is the memorial of Jagadamba and Jagadpita. The Father sat in the chariot of this Adi Dev Brahma and gave knowledge. All the children are sitting in the alcoves. There wouldn’t be temples built to all of them. The main ones are in the rosary of 108 and so 108 alcoves have been built. Only 108 are worshipped. The main ones are Shiv Baba and then it is the couple Brahma and Saraswati. Shiv Baba is the tassel at the top. He doesn’t have a body of His own. Brahma and Saraswati have their own bodies. The rosary is created of bodily beings. Everyone worships the rosary. Once they have worshipped it and turned the beads all the way through, they then say: Salutations to Shiv Baba, and bow their heads to it because He made all the impure ones pure. That is why it is worshipped. They hold a rosary in their hands and sit and chant Rama’s name. No one knows the name of the Supreme Father, the Supreme Soul. Shiv Baba is the main One and then there are also the other main ones, Prajapita Brahma and Saraswati. Then there are also the names of the Brahma Kumars and Kumaris who continue to make effort. As you progress further, you will continue to see all of this. When it is the end, you will come and stay here. Only those who are firm yogis will be able to stay here. Those who indulge in sensual pleasures will hear just a little sound and die there. Some people become unconscious just watching an operation being performed. So many people died when there was partition. Those people boast that they claimed the kingdom without having a war etc. However, so many died, don’t even ask! This is false Maya, the false body and the false world. The true Father now sits and tells you the truth. The Father says: I definitely need a chariot. I am the Senior Bridegroom and so I need a senior bride. Saraswati is also a mouth-born creation of Brahma. She is not the partner of Brahma, she is the daughter of Brahma. Why then is she called Jagadamba? Because this one is a male and so she has been appointed to look after the mothers. Saraswati, the mouth-born creation of Brahma, becomes the daughter of Brahma. Mama is young whereas Brahma is old. Young Saraswati, as the wife of Brahma, doesn’t seem right. She cannot be called a halfpartner. You have now understood this. So the Father says: I have to take this body of Brahma on loan. Many people take loans. When a brahmin priest is fed, he invokes a soul who comes and takes the support of the body of that brahmin. Does that soul leave his body and come here? No. It has been explained to you children that the system of visions has been fixed in the drama from the beginning. Souls are also called here. It isn’t that that soul will shed his body and come here. No; that is fixed in the drama. For the Father, this chariot is Nandigan, the sacred bull. Why else would they show a bull in a Shiva Temple? How could there be a bull with Shankar in the subtle region? There, there are just Brahma, Vishnu and Shankar; they show the form of a couple. They show the family path. Where did animals etc. come there from? The intellects of people do not work at all! They continue to say whatever enters their minds through which there is a waste of time and waste of energy. You say that you were pure deities and that you then became impure worshippers by taking rebirth. You yourselves were worthy of worship and you yourselves became worshippers. God doesn’t become worthy of worship or a worshipper. He doesn’t have to take 84 births. Maya makes people’s intellects completely like stone. The meaning of “Hum so” is not: “I, a soul, am the Supreme Soul.” “No, it is I, a Brahmin, will then become a deity.” You will continue to take rebirth. This is such a good explanation. The Father says: The one I have entered has had many gurus, studied many scriptures and has taken the full 84 births. He didn’t know that. I tell you as well as him. I also tell Brahma all of this. I cannot always be riding in the chariot. I tell everything to the Brahmins, the mouth-born creation of Brahma. I need a chariot. You children remember Me and I come. I have to do service and so Bharat becomes pure through the directions of Shri Shri Shiva. It is wrong to give the residents of heaven the title ‘Shri Shri’. Previously, they didn’t have the name Shri. Now they have made everyone Shri, that is, elevated. Shri Shri is Shiv Baba. Then it is Brahma, Vishnu and Shankar, the residents of the subtle region, and then Shri Lakshmi and Shri Narayan. These matters have to be understood. This knowledge is very entertaining. However, while studying, some disappear. Maya makes them let go of Baba’s hand. Shops are also numberwise. There would definitely be many salesmen in a big shop. There would be fewer salesmen in smaller shops. So, you should go to the big shops where there are the maharathis. The mothers have plenty of time whereas the men have to do business etc. and so they remain busy. The mothers are free. Once they have finished cooking, that’s it. The men then create bondages for you. They stop the mothers going to the Brahma Kumaris because they have heard that their vice would stop if the mothers went to them. Shiv Baba is something so slippery that you repeatedly forget Him. The Father shows you a very easy method: Remember Me and your sins will be absolved and you will come to Me. If you don’t remember Me, your sins won’t be cut away and I won’t take you back with Me. You will then have to experience punishment. On the path of devotion, you have been drinking buttermilk. You ate up all the butter in the golden and silver ages. So, at the end, just buttermilk is left. At first, you receive good buttermilk and then it is just like water. In the golden and silver ages, rivers of ghee and milk flow. Now ghee has become so expensive. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a Raj Rishi and do tapasya. In order to enter the rosary that is worthy of worship, do service the same as the father. Become a firm yogi.
  2. Knowledge is very entertaining. Therefore, study with enjoyment and don’t become confused.
Blessing: May you constantly have the fortune of happiness and experience an easy and elevated life with the divine sustenance of blessings.
At the confluence age BapDada sustains all the children with three relationships. In terms of the relationship of the Father, He sustains you with the awareness of the inheritance. In terms of the Teacher, He sustains you with the study and in terms of the Satguru, He sustains you with the experience of blessings. You are all receiving this at the same time. Therefore, continue to experience an easy and elevated life through this divine sustenance. Let the words “effort” and “difficult” finish and you will then be said to have the fortune of happiness.
Slogan: To be loving to all souls as well as to the Father is to have true feelings of faith and good wishes.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 31 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 October 2018

To Read Murli 30 October 2018 :- Click Here
31-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे-बच्चे – तुम आत्माओं को अपना-अपना रथ है, मैं हूँ निराकार, मुझे भी कल्प में एक ही बार रथ चाहिए, मैं ब्रह्मा का अनुभवी वृद्ध रथ उधार लेता हूँ”
प्रश्नः- किस निश्चय के आधार पर शरीर का भान भूलना अति सहज है?
उत्तर:- तुम बच्चों ने निश्चय से कहा – बाबा, हम आपके बन गये, तो बाप का बनना माना ही शरीर का भान भूलना। जैसे शिवबाबा इस रथ पर आता और चला जाता, ऐसे तुम बच्चे भी प्रैक्टिस करो इस रथ पर आने-जाने की। अशरीरी बनने का अभ्यास करो। इसमें मुश्किल का अनुभव नहीं होना चाहिए। अपने को निराकारी आत्मा समझ बाप को याद करो।
गीत:- ओम् नमो शिवाए……… 

ओम् शान्ति। शिवबाबा बच्चों को इस ब्रह्मा के रथ द्वारा समझाते हैं क्योंकि बाप बच्चों से ही पूछते हैं मुझे अपना रथ तो है नहीं। मुझे रथ तो जरूर चाहिए। जैसे तुम हर एक आत्मा को अपना-अपना रथ है ना। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को भी सूक्ष्म शरीर है ना। लक्ष्मी-नारायण आदि सब आत्माओं को शरीर रूपी रथ है जरूर, जिसको अश्व कहते हैं। हैं तो मनुष्य ना। मनुष्यों की ही बात समझाई जाती है, जानवरों की बातें जानवर जानें। यहाँ तो मनुष्य सृष्टि है तो बाप भी मनुष्यों को बैठ समझाते हैं। मनुष्य में भी जो आत्मा है, उनको बैठ समझाते हैं। डायरेक्ट पूछते हैं तुम हर एक को अपना-अपना शरीर है ना। हर एक आत्मा शरीर लेती और छोड़ती है। मनुष्य तो कह देते कि आत्मा 84 लाख जन्म लेती है। यह भूल है जबकि तुम 84 जन्म लेकर ही बिल्कुल फाँ हो गये हो (थक गये हो), कितने तंग हो गये हो। तो 84 लाख जन्मों की तो बात ही नहीं। यह हैं मनुष्यों के गपोड़े। तो बाप समझाते हैं तुम आत्माओं का भी अपना-अपना रथ है। मुझे भी तो रथ चाहिए ना। मैं तुम्हारा बेहद का बाप हूँ। गाते भी हैं पतित-पावन, ज्ञान का सागर…तुम और कोई को पतित-पावन नहीं कहेंगे। लक्ष्मी-नारायण आदि को भी नहीं कहेंगे। पतित सृष्टि को पावन बनाने वाला अर्थात् पावन सृष्टि स्वर्ग का रचयिता, परमपिता परमात्मा बिगर कोई हो नहीं सकता। सुप्रीम फादर वही है। बाप जानते हैं तुम नम्बरवार पत्थरबुद्धि से पारस बुद्धि बन रहे हो। बाहर वाले मनुष्य यह नहीं जानते। तो बाप समझाते हैं मुझे भी जरूर रथ तो चाहिए ना। मुझ पतित-पावन को जरूर पतित दुनिया में आना पड़े ना। प्लेग की बीमारी होती है तो डॉक्टर को प्लेगियों के पास आना पड़ेगा। बाप कहते हैं तुम्हारे में 5 विकारों की बीमारी आधाकल्प की है। मनुष्य तो दु:ख देने वाले हैं। इन 5 विकारों से तुम बिल्कुल ही पतित बन गये हो। तो बाप समझाते हैं मुझे पतित दुनिया में ही आना पड़े ना। पतित को ही भ्रष्टाचारी कहा जाता है, पावन को श्रेष्ठाचारी कहेंगे। बरोबर तुम्हारा भारत पावन श्रेष्ठाचारी था, लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। जिसकी ही महिमा गाते हो सर्वगुण सम्पन्न… वहाँ सब सुखी थे। यह तो कल की बात है। तो बाप कहते हैं मैं आऊं तो कैसे आऊं, किसके शरीर में आऊं? पहले तो मुझे प्रजापिता चाहिए। सूक्ष्म वतनवासी को यहाँ कैसे ले आ सकता? वह तो फरिश्ता है ना। उनको पतित दुनिया में ले आऊं – यह तो दोष हो जाए। कहेंगे मैंने क्या गुनाह किया? बाप बड़ी रमणीक बातें समझाते हैं। समझेगा वही जो बाप का बना होगा। घड़ी-घड़ी बाप को याद करता रहेगा।

बाप कहते हैं मैं आता ही तब हूँ जब धरती पर पाप बढ़ जाता है। कलियुग में मनुष्य कितने पाप करते हैं। तो बाप पूछते हैं – बच्चे, बताओ मैं आऊं तो किस तन में आऊं? मुझे चाहिए भी जरूर वृद्ध अनुभवी रथ। यह जो मैंने रथ लिया है, बरोबर इनके बहुत गुरू किये हुए हैं। शास्त्र आदि पढ़ा हुआ है। यह भी लिखा हुआ है ना कि बहुत पढ़ा हुआ था। अर्जुन की बात नहीं। मुझे कोई अर्जुन वा कृष्ण का रथ थोड़ेही चाहिए। मुझे तो चाहिए ब्रह्मा का रथ, उनको ही प्रजापिता कहेंगे। कृष्ण को तो प्रजापिता नहीं कहेंगे। बाप को तो ब्रह्मा का ही रथ चाहिए जिससे ब्राह्मणों की प्रजा रचे। ब्राह्मणों का है सर्वोत्तम कुल। विराट रूप दिखाते हैं ना। देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र, बाकी ब्राह्मण कहाँ गये? यह किसको भी पता नहीं। ऊंच ते ऊंच है ब्राह्मणों की चोटी। चोटी हो तब ही समझा जाता है कि यह ब्राह्मण है। सच्ची-सच्ची चोटी तो तुम्हारी है। तुम राजऋषि हो, बड़ी चोटी वाले। ऋषि उनको कहा जाता जो पवित्र रहते हैं। तुम हो राज-योगी, राजऋषि। राजाई के लिए तपस्या कर रहे हो। वह मुक्ति के लिए हठयोग की तपस्या करते हैं, तुम जीवनमुक्ति, राजाई के लिए राजयोग की तपस्या कर रहे हो। तुम्हारा नाम ही है शिव शक्ति। शिवबाबा तुम्हें रीइनकारनेट करते हैं। तो तुम फिर से भारत में जन्म लेते हो। जन्म लिया है ना। कोई-कोई ने भल जन्म लिया है परन्तु समझते नहीं कि हम शिवबाबा के बने हैं, उनके पास जन्म लिया है। अगर ऐसा समझें तो शरीर का भान बिल्कुल ही निकल जाना चाहिए। जैसे शिवबाबा निराकार इस रथ में है, तुम भी अपने को निराकार आत्मा समझो। बाप कहते हैं – बच्चे, मुझे याद करो। अब वापिस घर चलना है। तुम तो पहले अशरीरी थे फिर देवी वा देवता का शरीर लिया, फिर क्षत्रिय शरीर, फिर वैश्य शरीर, फिर शूद्र शरीर लिया। अभी फिर तुम अशरीरी बनो। तुम मुझ निराकार को ही कहते हो – बाबा, अभी हम आपके बने हैं, हमको वापिस जाना है। देह को तो ले नहीं चलना है। हे आत्मायें, अब मुझ बाप को और स्वीट होम को याद करो। मनुष्य जब विलायत से लौटते हैं तो कहते हैं – चलो, अपने स्वीट होम भारत में चलें। जहाँ जन्म लिया था वहाँ लौटें। मनुष्य मरते हैं तो जहाँ जन्म लिया था उनको वहाँ ले जाते हैं। समझते हैं भारत की मिट्टी का बना हुआ है तो वह मिट्टी भारत में ही छोड़ें।

बाप कहते हैं मेरा जन्म भी भारत में है। शिव जयन्ती भी मनाते हो। मेरे नाम तो ढेर रख दिये हैं। कहते हैं हर-हर महादेव, सबके दु:ख काटने वाला, वह भी मैं ही हूँ, शंकर नहीं है। ब्रह्मा सर्विस पर हाज़िर है। और फिर जो स्थापना करते हैं वही विष्णु के दो रूप से पालना करेंगे। मुझे प्रजापिता ब्रह्मा जरूर चाहिए। आदि देव का बरोबर मन्दिर भी है। आदि देव किसका बच्चा है? कोई बताये। इस देलवाड़ा मन्दिर के जो ट्रस्टी लोग हैं वह भी यह नहीं जानते कि आदि देव है कौन? उनका बाप कौन था? आदि देव प्रजापिता ब्रह्मा है, उनका बाप है शिव। यह जगतपिता, जगत अम्बा का यादगार मन्दिर है। इस आदि देव ब्रह्मा के रथ में बाप ने बैठ ज्ञान सुनाया है। कोठरी में सब बच्चे बैठे हैं। सभी का मन्दिर तो नहीं बनायेंगे। मुख्य है 108 की माला, तो 108 कोठरियां बना दी हैं। 108 की ही पूजा होती है। मुख्य है शिवबाबा फिर ब्रह्मा-सरस्वती युगल। वह शिवबाबा है फूल। उनको अपना शरीर नहीं है। ब्रह्मा-सरस्वती को अपना शरीर है। माला शरीरधारियों की बनी हुई है। सब माला को पूजते हैं। पूजकर पूरा करेंगे फिर शिवबाबा को नमस्कार करेंगे, माथा झुकायेंगे क्योंकि उसने इन सबको पतित से पावन बनाया है इसलिए पूजी जाती है। माला हाथ में ले बैठ राम-राम कहते हैं। परमपिता परमात्मा के नाम का किसको पता नहीं है। शिवबाबा है मुख्य फिर प्रजापिता ब्रह्मा और सरस्वती भी मुख्य हैं। बाकी ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ जो-जो पुरुषार्थ करते रहते हैं उन्हों के नाम होंगे। आगे चल तुम सब देखते रहेंगे। जब पिछाड़ी होगी तब तुम यहाँ आकर रहेंगे। जो पक्के योगी होंगे वही रह सकेंगे। भोगी तो थोड़ा ठका सुनने से ख़त्म हो जायेंगे। कोई का आपरेशन देखने से भी मनुष्य अनकॉन्सेस हो जाते हैं। अभी पार्टीशन में कितने मनुष्य मरे। वो लोग तो गपोड़े मारते रहते हैं कि हमने बिगर कोई लड़ाई राज्य ले लिया। परन्तु मरे इतने जो बात मत पूछो। यह है ही झूठी माया…. अभी सच्चा बाप बैठ तुमको सच सुनाते हैं। बाप कहते हैं मुझे रथ तो जरूर चाहिए। मैं साजन बड़ा हूँ तो सजनी भी बड़ी चाहिए। सरस्वती है ब्रह्मा मुख वंशावली। वह कोई ब्रह्मा की युगल नहीं है, ब्रह्मा की बेटी है। उनको फिर जगत अम्बा क्यों कहते हैं? क्योंकि यह मेल है ना, तो माताओं की सम्भाल के लिए उनको रखा है। ब्रह्मा मुख वंशावली सरस्वती तो ब्रह्मा की बेटी हो गई। मम्मा तो जवान है, ब्रह्मा तो बूढ़ा है। सरस्वती जवान, ब्रह्मा की स्त्री शोभती भी नहीं। हाफ पार्टनर कहला न सके। अभी तुम समझ गये हो। तो बाप कहते हैं मुझे इस ब्रह्मा का शरीर लोन लेना पड़ता है। उधार पर तो बहुत लेते हैं। ब्राह्मण को खिलाते हैं तो वह आत्मा आकर ब्राह्मण के शरीर का आधार लेगी। आत्मा वह शरीर छोड़कर आती है क्या? नहीं, यह तो बच्चों को समझाया गया है कि ड्रामा में साक्षात्कार की रस्म-रिवाज पहले से नूँध है। यहाँ भी बुलाते हैं। ऐसे नहीं कि आत्मा शरीर छोड़कर आयेगी। नहीं, यह ड्रामा में नूँध है। बाप के लिए तो यह रथ नंदीगण है। नहीं तो शिव के मन्दिर में बैल क्यों दिखाते? सूक्ष्म वतन में शंकर के पास बैल कहाँ से आया? वहाँ तो है ही ब्रह्मा, विष्णु, शंकर और वह युगल दिखाते हैं। प्रवृत्ति मार्ग दिखाते हैं। बाकी वहाँ जानवर कहाँ से आया? मनुष्यों की बुद्धि कुछ भी काम नहीं करती, जो आता है सो कहते रहते। जिससे वेस्ट ऑफ टाइम, वेस्ट ऑफ एनर्जी होती है।

तुम कहते हो हम सो पावन देवता थे फिर पुनर्जन्म लेते-लेते हम पतित पुजारी बने हैं। आपे ही पूज्य, आपेही पुजारी। पूज्य और पुजारी कोई भगवान् नहीं बनता। उनको थोड़ेही 84 जन्म लेने पड़ते। माया मनुष्यों को बिल्कुल पत्थरबुद्धि बना देती है। हम सो का अर्थ यह नहीं कि हम आत्मा सो परमात्मा हैं, नहीं। हम सो ब्राह्मण, सो देवता बनेंगे। पुनर्जन्म लेते आयेंगे। कितनी अच्छी समझानी है। बाप कहते हैं मैंने जिसमें प्रवेश किया है, इसने बहुत गुरू किये, शास्त्र पढ़े हैं, जन्म भी पूरे 84 लिए हुए हैं। यह नहीं जानता, हम तुमको इन सहित बताता हूँ। ब्रह्मा को भी बतलाता हूँ। सदैव भी तो सवारी नहीं कर सकता हूँ। ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मणों को बतलाता हूँ। मुझे रथ भी चाहिए ना। तुम बच्चे याद करते हो और मैं आ जाता हूँ। मुझे तो सर्विस करनी है तो श्री श्री शिव की मत से भारत पावन बनता है। नर्कवासियों को श्री श्री का टाइटिल देना रांग है। आगे श्री नाम नहीं था। अभी तो सबको श्री अर्थात् श्रेष्ठ बना दिया है। श्री श्री तो है शिवबाबा। फिर सूक्ष्मवतनवासी ब्रह्मा, विष्णु, शंकर फिर श्री लक्ष्मी-नारायण। यह समझने की बातें हैं। नॉलेज बड़ी मज़े की है। परन्तु कोई-कोई पढ़ते-पढ़ते रफू-चक्कर हो जाते हैं। माया हाथ छुड़ा देती है। दुकान भी नम्बरवार हैं। बड़ी दुकान में जरूर अच्छे सेल्स मैन होंगे। छोटे-छोटे में कम होंगे। तो बड़ी दुकान पर जाना चाहिए जहाँ महारथी हों। माताओं को तो टाइम बहुत रहता है। पुरुषों को धंधा आदि करना है तो बिजी रहते हैं। मातायें तो फ्री हैं। खाना पकाया बस। वह तुम पर फिर बंधन डालते हैं। सुनते हैं ब्रह्माकुमारियों पास जाने से विष बंद हो जायेगा, तो रोकते हैं।

शिवबाबा ऐसी तिरकनी (फिसलने वाली) चीज़ है जो घड़ी-घड़ी भूल जाती है। बाप बिल्कुल सहज रास्ता बताते हैं कि मुझे याद करो तो तुम्हारे पाप भी कट जायेंगे और मेरे पास भी आ जायेंगे। याद नहीं करेंगे तो पाप भी नहीं कटेंगे और साथ भी नहीं ले जाऊंगा। फिर सजा खानी पड़ेगी। भक्ति मार्ग में छांछ पीते आये। मक्खन तो तुमने सतयुग-त्रेता में खाकर पूरा कर दिया। बाकी पीछे छांछ रह जाती है। छांछ भी पहले अच्छी मिलती फिर पानी मिलता है। सतयुग-त्रेता में घी दूध की नदी बहती है। अभी तो घी कितना महंगा हो गया है। अच्छा!

मात-पिता बापदादा का मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) राजऋषि बन तपस्या करनी है। पूज्यनीय माला में आने के लिए बाप समान सर्विस करनी है। पक्का योगी बनना है।

2) नॉलेज बड़ी मज़े की है, इसलिए रमणीकता से पढ़ना है, मूँझना नहीं है।

वरदान:- वरदानों की दिव्य पालना द्वारा सहज और श्रेष्ठ जीवन का अनुभव करने वाले सदा खुशनसीब भव
बापदादा संगमयुग पर सभी बच्चों की तीन संबंधों से पालना करते हैं। बाप के संबंध से वर्से की स्मृति द्वारा पालना, शिक्षक के संबंध से पढ़ाई की पालना और सतगुरू के संबंध से वरदानों के अनुभूति की पालना.. एक ही समय पर सबको मिल रही है, इसी दिव्य पालना द्वारा सहज और श्रेष्ठ जीवन का अनुभव करते रहो। मेहनत और मुश्किल शब्द भी समाप्त हो जाए तब कहेंगे खुशनसीब।
स्लोगन:- बाप के साथ-साथ सर्व आत्माओं के स्नेही बनना ही सच्ची सद्भावना है।
Font Resize