30 october ki murli

TODAY MURLI 30 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 30 October 2020

30/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you receive one direction from the one Father. It is called the undivided direction. It is by following this undivided direction that you become deities.
Question: What main thing have human beings forgotten in this game of the maze?
Answer: Having gone into the game of the maze, they have forgotten their way home. They don’t know when or how they can return home. The Father has now come to take all of you back with Him. Your effort now is to go beyond sound to the sweet home.
Song: O traveller of the night, do not become weary! Your days of happiness are about to come!

Om shanti. According to the dramplan, no one else can understand the meaning of the song. There are some songs composed by people outside that can help you. You children understand that you are now becoming deities. Just as those who study worldly studies say that they are becoming doctors or barristers, so it is in your intellects that you are becoming deities for the new world. Only you have these thoughts. The new world, the golden age, is called the land of immortality. At present, there is no golden age or kingdom of deities; that cannot exist here. You know that you have been around the cycle and reached the end of the iron age. The cycle does not enter the intellect of anyone else. They say that the duration of the golden age is hundreds of thousands of years. You children have the faith that the cycle really does turn every 5000 years. Human beings only take 84 births; there is an account. This deity religion is called the undivided religion. There is also the undivided scripture: there is only one of those. Otherwise, there are innumerable religions and innumerable scriptures elsewhere. You are only one. You receive one direction from the One. This is called the undivided direction. It is you who receive the undivided direction. This study is to become deities. This is why the Father is called the Ocean of Knowledge and knowledge-full. You children understand that God is teaching you for the new world. Do not forget this. Would students in a school forget their teacher? No. Those living at home with their families study in order to attain a better position. You are also studying while living at home with your families, in order to progress. It should enter your hearts that you are studying with the unlimited Father. Shiv Baba is Baba and Prajapita Brahma is Baba. The name Prajapita Brahma, Adi Dev, is very well known. It is just that he existedin the past, just as Gandhiji also existed in the past. They called him Bapuji (father), but they don’t think he was that; they just say it. Shiv Baba really is that. Brahma Baba is also that and a physical father is really that. However, they call the mayor of a city “father” only for the sake of it. All of those are artificial, whereas this One is real. The Father, the Supreme Soul, comes and makes souls belong to Him through Prajapita Brahma. He must definitely have many children. All are the children of Shiv Baba. Everyone remembers Him. Nevertheless, some don’t even accept Him. They are firm atheists who say that this world is created with a thought. The Father now explains to you: Keep it in your intellects that you are studying and that it is Shiv Baba who is teaching you. Remember this day and night. It is this that Maya makes you forget again and again. This is why you have to remember Baba. You forget all three: the Father, the Teacher and the Satguru. He is only one but you still forget Him. It is in this that you battle with Ravan. The Father says: O souls! You were satopradhan and have now become tamopradhan. You were pure when you were in the land of peace. No soul can stay above without purity. This is why all souls call out to the Purifier Father. When everyone has become impure and tamopradhan, the Father comes and says: I make you satopradhan. When you were all in the land of peace, you were pure. No impure souls can stay there. Everyone definitely has to experience punishment and become pure. No one can return home without becoming pure. Although they say that so-and-so has merged into the brahm element, or that so-and-so has merged into the element of light, all of those are the innumerable ideas of the path of devotion. This is your undivided direction. Only the one Father can change you from humans into deities. Every cycle, the Father comes to teach you. His act continues exactly as it did in the previous cycle. This drama is eternally predestined. The world cycle continues to turn. There is the golden age, the silver age, the copper age, the iron age and then there is this confluence age. The main religions are Deitysm, Islamism, Buddhism, and Christianity. They are those who have a kingdom. There is no kingdom of the Brahmins or of the Kauravas. You children now have to remember the unlimited Father again and again. You can also explain to worldly brahmins. Baba has told you many times: First, there is the Brahmin topknot. You are first the progeny of Brahma. You know that, later, on the path of devotion, you are the ones who become worshippers from being worthy of worship. You are now becoming worthy of worship. Those worldly brahmins are householders and not sannyasis. Sannyasis are hatha yogis; they force themselves to leave their households. Hatha yogis teach many types of yoga. There is a museum of hatha yogis in Jaipur, but there are no images of Raj Yoga there. It is only in the Dilwala Temple that there are images of Raj Yoga. There is no museum of that. There are so many museums of hatha yoga. It is only in Bharat that they have temples of Raj Yoga. This museum is in the living form. You are sitting here in the living form. People don’t know where heaven is. In the Dilwala Temple you are shown seated on the ground doing tapasya. That is a complete memorial of you. Heaven is portrayed above you. People do believe that heaven is up above. This cycle continues to turn. After half the cycle, heaven will go down below, and then, at the end of the cycle, heaven will come up above. No one knows how long its duration is. The Father has explained the whole cycle to you. When the cycle comes to an end you take the knowledge and go up above, and then the cycle starts afresh. You should turn this around in your intellects. When those people study knowledge they have their books, etc. in their intellects, do they not? This too is a study. Keep yourself filled with this. Do not forget it. All – old, young and children – have a right to study this study. You simply have to know Alpha. Once you know Alpha, the Father’s property will enter your intellect. Even animals keep their children in their intellects. When they go into a forest they still continue to remember their home and their young ones. They automatically find their young ones. The Father now says: Children, constantly remember Me alone and also remember your home, from where you came to play your parts. Souls love their home. They remember their home so much, but they have forgotten their way back. It is in your intellects that you live very far away. However, no one knows how you can go there or why you are unable to go there. Baba has explained that this is why the game of the maze has been created: whichever way you go, the door is closed. You know that the gates to heaven will open after this war. Everyone will leave this land of death. All human beings will go and stay there, numberwise, according to their religions and according to their parts. All of these things are in your intellects. People beat their heads so much in order to go to the brahm element. You have to go beyond sound. No sound remains when a soul leaves his body. You children know that that is your sweet home. There is then the sweet kingdom, the undivided kingdom of the deities. The Father comes and teaches you Raj Yoga. He explains to you the full knowledge from which the scriptures are later created on the path of devotion. You don’t need to study those scriptures, etc now. Old mothers don’t study in those schools. Here everyone studies. You children become deities in the land of immortality. There, no such words of defamation are spoken. You now know that heaven existed in the past. There is praise of heaven. They build so many temples. Ask them: When did Lakshmi and Narayan exist in the past? They don’t know anything at all. You now know that you have to return home. It has been explained to you children that the meaning of “Om” is different from the meaning of “Hum so”. They have made the meaning of “Om” and the meaning of “Hum so” the same. You souls are residents of the land of peace. You come down here to play your parts. You become deities, warriors, merchants and shudras. “Om” means “I am a soul.” There is so much difference! They have taken the meaning of both to be the same. These matters have to be understood with your intellects. Those who don’t understand fully continue to nod off all the time. You never nod off when you are earning an income. That income is for a temporary period. This income is for half the cycle. However, when your intellect wanders off in other directions, you become tired and continue to yawn. You must not sit here with your eyes closed. You know that souls are imperishable and that bodies are perishable. There is the difference of day and night between the way iron-aged residents of hell look at everything and the way you look at everything. I, a soul, am studying with the Father. No one knows that the Supreme Father, the Supreme Soul, the Ocean of Knowledge, comes to teach us. I, a soul, am listening to Him. It is only by considering yourselves to be souls and remembering the Father that your sins will be absolved. Your intellects will go up above. Shiv Baba is speaking this knowledge to us. A very refined intellect is required for this. Baba shows you the way to refine your intellects. By considering yourselves to be souls you will definitely remember the Father. The reason why you have to consider yourselves to be souls is so that you can remember the Father and form that relationship which has been broken for the whole cycle. There, there is just the reward of happiness and only happiness; there is no question of sorrow there. That is called heaven. Only Heavenly God, the Father, makes you into the masters of heaven. You even forget such a Father! The Father comes and adopts you children. Many children are adopted by the Marwari caste. They become very happy because they have gone into the laps of wealthy ones. Children of the wealthy would never be adopted by the poor. You are children of Prajapita Brahma. Therefore, you would definitely be mouth-born creations. You Brahmins are mouth-born creations. Those creations are born through poison. You understand the difference in this. Only when you explain to them can they become mouth-born creations. This is an adoption. A husband considers his wife to belong to him. Is the wife created through poison or through the mouth? The wife is a mouth-born creation. Then, when they have children, those creations are born through poison. The Father says: All of you are mouth-born creations. When it is said “You are Mine”, you belong to Me, do you not? When it is said: “These are My children”, the intoxication rises. Therefore, all of you are mouth-born creations. Souls are not mouth-born creations. Souls are eternal and imperishable. You know how the human world is transferred. You children have received many points. Nevertheless, Baba says: Even if you are unable to imbibe anything or speak about anything, simply remember the Father and you will be able to claim a status higher than those who give lectures. Sometimes, even those who give lectures fall due to storms. However, if they didn’t fall and simply continued to remember the Father, they could claim a high status. Those who indulge in vices the most break all their bones, because that is like falling from the fifth floor. Body consciousness is the fifth floor, lust is the fourth floor, and so on… The Father says: Lust is the greatest enemy. Some children write: Baba, I have fallen. For anger, it isn’t said that they have fallen. When someone dirties his face, he hurts himself badly. He is unable to tell others that lust is the greatest enemy. Baba repeatedly says: Be very cautious about criminal eyes. In the golden age there is no question of being stripped. There are no criminal eyesThe eyes become civil. That is a civilian (civilized) kingdom. At this time, the world is criminal. You souls have now received civil eyes, which continue to work for 21 births. No one becomes criminal there. The Father explains the main thing: Remember the Father and the cycle of 84 births. It is a wonder how the one who becomes Shri Narayan then becomes the Lucky Chariot at the end. The Father enters him. Therefore, he becomes very lucky. Let the history of 84 births of how Brahma becomes Vishnu and how Vishnu becomes Brahma remain in your intellects. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Refine your intellect with remembrance of the Father. Always keep your intellect full of this knowledge. Constantly remember the Father and the home and also remind others to do this.
  2. Finish your criminal eyes in this last birth and make them civil. Be very cautious about criminal eyes.
Blessing: May you become a sovereign who experiences the ascending stage by keeping a balance of remembrance and service.
When you have a balance of remembrance and service, you will continue to experience the ascending stage at every step. When you have service in every thought, you will be liberated from waste. Make service part of your life. Just as all organs are necessary for the body, in the same way, service is a special organ for Brahmin life. To have many chances to do service, to have a place to do service and company to do it with, are also signs of fortune. Those who take such golden chances to do service become sovereigns.
Slogan: The form of God’s sustenance of love is an easy yogi life.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

30-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हें एक बाप से एक मत मिलती है, जिसे अद्वेत मत कहते हैं, इसी अद्वेत मत से तुम्हें देवता बनना है”
प्रश्नः- मनुष्य इस भूल भुलैया के खेल में सबसे मुख्य बात कौन सी भूल गये हैं?
उत्तर:- हमारा घर कहाँ है, उसका रास्ता ही इस खेल में आकर भूल गये हैं। पता ही नहीं है कि घर कब जाना है और कैसे जाना है। अभी बाप आये हैं तुम सबको साथ ले जाने। तुम्हारा अभी पुरूषार्थ है वाणी से परे स्वीट होम में जाने का।
गीत:- रात के राही थक मत जाना…….. 

ओम् शान्ति। गीत का अर्थ और कोई समझ न सके, ड्रामा प्लैन अनुसार। कोई-कोई गीत ऐसे बने हुए हैं, मनुष्यों के, जो तुम्हें मदद करते हैं। बच्चे समझते हैं अभी हम सो देवी-देवता बन रहे हैं। जैसे वह पढ़ाई पढ़ने वाले कहेंगे हम सो डाक्टर, बैरिस्टर बन रहे हैं। तुम्हारी बुद्धि में है हम सो देवता बन रहे हैं – नई दुनिया के लिए। यह सिर्फ तुम्हें ही ख्याल आता है। अमरलोक, नई दुनिया सतयुग को ही कहा जाता है। अभी तो न सतयुग है, न देवताओं का राज्य है। यहाँ तो हो नहीं सकता। तुम जानते हो यह चक्र घूमकर अभी हम कलियुग के भी अन्त में आकर पहुँचे हैं। और कोई की भी बुद्धि में चक्र नहीं आयेगा। वह तो सतयुग को लाखों वर्ष दे देते हैं। तुम बच्चों को यह निश्चय है – बरोबर यह 5 हज़ार वर्ष बाद चक्र फिरता रहता है। मनुष्य 84 जन्म ही लेते हैं, हिसाब है ना। इस देवी-देवता धर्म को अद्वेत धर्म भी कहा जाता है। अद्वेत शास्त्र भी माना जाता है। वह भी एक ही है, बाकी तो अनेक धर्म हैं, शास्त्र भी अनेक हैं। तुम हो एक। एक द्वारा एक मत मिलती है। उसको कहा जाता है अद्वेत मत। यह अद्वेत मत तुमको मिलती है। देवी-देवता बनने के लिए यह पढ़ाई है ना इसलिए बाप को ज्ञान सागर, नॉलेजफुल कहा जाता है। बच्चे समझते हैं हमको भगवान पढ़ाते हैं, नई दुनिया के लिए। यह भूलना नहीं चाहिए। स्कूल में स्टूडेन्ट कभी टीचर को भूलते हैं क्या? नहीं। गृहस्थ व्यवहार में रहने वाले भी जास्ती पोजीशन पाने के लिए पढ़ते हैं। तुम भी गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए पढ़ते हो, अपनी उन्नति करने के लिए। दिल में यह आना चाहिए हम बेहद के बाप से पढ़ रहे हैं। शिवबाबा भी बाबा है, प्रजापिता ब्रह्मा भी बाबा है। प्रजापिता ब्रह्मा आदि देव नाम बाला है। सिर्फ पास्ट हो गये हैं। जैसे गांधी भी पास्ट हो गये हैं। उनको बापू जी कहते हैं परन्तु समझते नहीं, ऐसे ही कह देते हैं। यह शिवबाबा सच-सच है, ब्रह्मा बाबा भी सच-सच है, लौकिक बाप भी सच-सच होता है। बाकी मेयर आदि को तो ऐसे ही बापू कह देते हैं। वह सब हैं आर्टीफिशल। यह है रीयल। परमात्मा बाप आकर आत्माओं को प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा अपना बनाते हैं। उनके तो जरूर ढेर बच्चे होंगे। शिवबाबा की तो सब सन्तान हैं, उनको सब याद करते हैं। फिर भी कोई-कोई उनको भी नहीं मानते, पक्के नास्तिक होते हैं – जो कहते हैं यह संकल्प की दुनिया बनी हुई है। अभी तुमको बाप समझाते हैं, यह बुद्धि में याद रखो – हम पढ़ रहे हैं। पढ़ाने वाला है शिवबाबा। यह रात-दिन याद रहना चाहिए। यही माया घड़ी-घड़ी भुला देती है, इसलिए याद करना होता है। बाप, टीचर, गुरू तीनों को भूल जाते हैं। है भी एक ही फिर भी भूल जाते हैं। रावण के साथ लड़ाई इसमें है। बाप कहते हैं – हे आत्मायें, तुम सतोप्रधान थी, अभी तमोप्रधान बनी हो। जब शान्तिधाम में थी तो पवित्र थी। प्योरिटी के बिगर कोई आत्मा ऊपर में रह नहीं सकती इसलिए सब आत्मायें पतित-पावन बाप को बुलाती रहती हैं। जब सभी पतित तमोप्रधान बन जाते हैं तब बाप आकर कहते हैं मैं तुमको सतोप्रधान बनाता हूँ। तुम जब शान्तिधाम में थे तो वहाँ सब पवित्र थे। अपवित्र आत्मा वहाँ कोई रह न सके। सबको सज़ायें भोगकर पवित्र जरूर बनना है। पवित्र बनने बिगर कोई वापिस जा न सके। भल कोई कह देते हैं ब्रह्म में लीन हुआ, फलाना ज्योति ज्योत समाया। यह सब है भक्ति मार्ग की अनेक मतें। तुम्हारी यह है अद्वेत मत। मनुष्य से देवता तो एक बाप ही बना सकते हैं। कल्प-कल्प बाप आते हैं पढ़ाने। उनकी एक्ट हूबहू कल्प पहले मुआफिक ही चलती है। यह अनादि बना-बनाया ड्रामा है ना। सृष्टि चक्र फिरता रहता है। सतयुग, त्रेता, द्वापर, कलियुग फिर है यह संगमयुग। मुख्य धर्म भी यह है डिटीज्म, इस्लामीज्म, बुद्धिज्म, क्रिश्चियनीज्म अर्थात् जिसमें राजाई चलती है। ब्राह्मणों की राजाई नहीं है, न कौरवों की राजाई है। अभी तुम बच्चों को घड़ी-घड़ी याद करना है – बेहद के बाप को। तुम ब्राह्मणों को भी समझा सकते हो। बाबा ने बहुत बार समझाया है – पहले-पहले ब्राह्मण चोटी हैं, ब्रह्मा की वंशावली पहले-पहले तुम हो। यह तुम जानते हो फिर भक्ति-मार्ग में हम ही पूज्य से पुजारी बन जाते हैं। फिर अभी हम पूज्य बन रहे हैं। वह ब्राह्मण गृहस्थी होते हैं, न कि संन्यासी। संन्यासी हठयोगी हैं, घरबार छोड़ना हठ है ना। हठयोगी भी अनेक प्रकार के योग सिखाते हैं। जयपुर में हठयोगियों का भी म्युज़ियम है। राजयोग के चित्र हैं नहीं। राजयोग के चित्र हैं ही यहाँ देलवाड़ा में। इनका म्युज़ियम तो है नहीं। हठयोग के कितने म्युजियम हैं। राजयोग का मन्दिर यहाँ भारत में ही है। यह है चैतन्य। तुम यहाँ चैतन्य में बैठे हो। मनुष्यों को कुछ भी पता नहीं कि स्वर्ग कहाँ है। देलवाड़ा मन्दिर में नीचे तपस्या में बैठे हैं, पूरा यादगार है। जरूर स्वर्ग ऊपर ही दिखाना पड़े। मनुष्य फिर समझ लेते कि स्वर्ग ऊपर में है। यह तो चक्र फिरता रहता है। आधाकल्प के बाद स्वर्ग फिर नीचे चला जायेगा फिर आधाकल्प स्वर्ग ऊपर आयेगा। इनकी आयु कितनी है, कोई जानते नहीं। तुमको बाप ने सारा चक्र समझाया है। तुम ज्ञान लेकर ऊपर जाते हो, चक्र पूरा होता है फिर नयेसिर चक्र शुरू होगा। यह बुद्धि में चलना चाहिए। जैसे वह नॉलेज पढ़ते हैं तो बुद्धि में किताब आदि सब याद रहते हैं ना। यह भी पढ़ाई है। यह भरपूर रहना चाहिए, भूलना नहीं चाहिए। यह पढ़ाई बूढ़े, जवान, बच्चे आदि सबको हक है पढ़ने का। सिर्फ अल्फ को जानना है। अल्फ को जान लिया तो बाप की प्रापर्टी भी बुद्धि में आ जायेगी। जानवर को भी बच्चे आदि सब बुद्धि में रहते हैं। जंगल में जायेंगे तो भी घर और बछड़े याद आते रहेंगे। आपेही ढूँढकर आ जाते हैं। अब बाप कहते हैं बच्चे मामेकम् याद करो और अपने घर को याद करो। जहाँ से तुम आये हो पार्ट बजाने। आत्मा को घर बहुत प्यारा लगता है। कितना याद करते हैं परन्तु रास्ता भूल गये हैं। तुम्हारी बुद्धि में है, हम बहुत दूर रहते हैं। परन्तु वहाँ जाना कैसे होता है, क्यों नहीं हम जा सकते हैं, यह कुछ भी पता नहीं है, इसलिए बाबा ने बताया था भूल-भुलैया का खेल भी बनाते हैं, जहाँ से जायें दरवाजा बन्द। अभी तुम जानते हो इस लड़ाई के बाद स्वर्ग का दरवाजा खुलता है। इस मृत्युलोक से सब जायेंगे, इतने सब मनुष्य नम्बरवार धर्म अनुसार और पार्ट अनुसार जाकर रहेंगे। तुम्हारी बुद्धि में यह सब बातें हैं। मनुष्य ब्रह्म तत्व में जाने के लिए कितना माथा मारते हैं। वाणी से परे जाना है। आत्मा शरीर से निकल जाती है तो फिर आवाज़ नहीं रहता। बच्चे जानते हैं हमारा तो वह स्वीट होम है। फिर देवताओं की है स्वीट राजधानी, अद्वेत राजधानी।

बाप आकर राजयोग सिखलाते हैं। सारी नॉलेज समझाते हैं, जिसके फिर भक्ति में शास्त्र आदि बैठ बनाये हैं, अभी तुमको वह शास्त्र आदि नहीं पढ़ना है। उन स्कूलों में बुढ़ियां आदि नहीं पढ़ती। यहाँ तो सब पढ़ते हैं। तुम बच्चे अमरलोक में देवता बन जाते हो, वहाँ कोई ऐसे अक्षर नहीं बोले जाते हैं, जिससे किसी की ग्लानि हो। अभी तुम जानते हो स्वर्ग पास्ट हो गया है, उनकी महिमा है। कितने मन्दिर बनाते हैं। उनसे पूछो – यह लक्ष्मी-नारायण कब होकर गये हैं? कुछ भी पता नहीं है। अभी तुम जानते हो हमको अपने घर जाना है। बच्चों को समझाया है – ओम् का अर्थ अलग है और सो हम का अर्थ अलग है। उन्होंने फिर ओम्, सो हम सो का अर्थ एक कर दिया है। तुम आत्मा शान्तिधाम में रहने वाली हो फिर आती हो पार्ट बजाने। देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनते हैं। ओम् अर्थात् हम आत्मा। कितना फ़र्क है। वह फिर दोनों को एक कर देते हैं। यह बुद्धि से समझने की बातें हैं। कोई पूरी रीति समझते नहीं हैं तो फिर झुटका खाते रहते हैं। कमाई में कभी झुटका नहीं खाते हैं। वह कमाई तो है अल्पकाल के लिए। यह तो आधाकल्प के लिए है। परन्तु बुद्धि और तरफ भटकती है तो फिर थक जाते हैं। उबासी देते रहते हैं। तुमको आंखें बन्द करके नहीं बैठना चाहिए। तुम तो जानते हो आत्मा अविनाशी है, शरीर विनाशी है। कलियुगी नर्कवासी मनुष्यों को देखने और तुम्हारे देखने में भी रात-दिन का फ़र्क हो जाता है। हम आत्मा बाप द्वारा पढ़ते हैं। यह कोई को पता नहीं। ज्ञान सागर परमपिता परमात्मा आकर पढ़ाते हैं। हम आत्मा सुन रही हैं। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करने से विकर्म विनाश होंगे। तुम्हारी बुद्धि ऊपर चली जायेगी। शिवबाबा हमको नॉलेज सुना रहे हैं, इसमें बहुत रिफाइन बुद्धि चाहिए। रिफाइन बुद्धि करने के लिए बाप युक्ति बताते हैं – अपने को आत्मा समझने से बाप जरूर याद आयेगा। अपने को आत्मा समझते ही इसलिए हैं कि बाप याद पड़े, सम्बन्ध रहे जो सारा कल्प टूटा है। वहाँ तो है प्रालब्ध सुख ही सुख, दु:ख की बात नहीं। उनको हेविन कहते हैं। हेविनली गॉड फादर ही हेविन का मालिक बनाते हैं। ऐसे बाप को भी कितना भूल जाते हैं। बाप आकर बच्चों को एडाप्ट करते हैं। मारवाड़ी लोग बहुत एडाप्ट करते हैं तो उनको खुशी होगी ना – मैं साहूकार की गोद में आया हूँ। साहूकार का बच्चा गरीब के पास कभी नहीं जायेगा। यह प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे हैं तो जरूर मुख वंशावली होंगे ना। तुम ब्राह्मण हो मुख वंशावली। वह हैं कुख वंशावली। इस फर्क को तुम जानते हो। तुम जब समझाओ तब मुख वंशावली बनें। यह एडाप्शन है। स्त्री को समझते हैं मेरी स्त्री। अब स्त्री कुख वंशावली है या मुख वंशावली? स्त्री है ही मुख वंशावली। फिर जब बच्चे होते हैं, वह हैं कुख वंशावली। बाप कहते हैं यह सब हैं मुख वंशावली, मेरी कहने से मेरी बनी ना। मेरे बच्चे हैं, यह कहने से नशा चढ़ता है। तो यह हैं सब मुख वंशावली, आत्मायें थोड़ेही मुख वंशावली हैं। आत्मा तो अनादि-अविनाशी है। तुम जानते हो यह मनुष्य सृष्टि कैसे ट्रांसफर होती है। प्वाइंट्स तो बच्चों को बहुत मिलती हैं। फिर भी बाबा कहते हैं – और कुछ धारणा नही होती है, मुख नहीं चलता है तो अच्छा तुम बाप को याद करते रहो तो तुम भाषण आदि करने वालों से ऊंच पद पा सकते हो। भाषण करने वाले कोई समय तूफान में गिर पड़ते हैं। वह गिरे नहीं, बाप को याद करते रहें तो जास्ती पद पा सकते हैं। सबसे जास्ती जो विकार में गिरते हैं तो 5 मार (मंजिल) से गिरने से हडगुड टूट जाते हैं। पांचवी मंजिल है – देह-अभिमान। चौथी मंजिल है काम फिर उतरते आओ। बाप कहते हैं काम महाशत्रु है। लिखते भी हैं बाबा हम गिर पड़े। क्रोध के लिए ऐसे नहीं कहेंगे कि हम गिर पड़े। काला मुँह करने से बड़ी चोट लगती है फिर दूसरे को कह न सकें कि काम महाशत्रु है। बाबा बार-बार समझाते हैं – क्रिमिनल आंखों की बहुत सम्भाल करनी है। सतयुग में नंगन होने की बात ही नहीं। क्रिमिनल आई होती नहीं। सिविल आई हो जाती है। वह है सिविलीयन राज्य। इस समय है क्रिमिनल दुनिया। अभी तुम्हारी आत्मा को सिविलाइज़ मिलती है, जो 21 जन्म काम देती है। वहाँ कोई भी क्रिमिनल नहीं बनते। अब मुख्य बात बाप समझाते हैं बाप को याद करो और 84 के चक्र को याद करो। यह भी वन्डर है जो श्री नारायण है वही अन्त में आकर भाग्यशाली रथ बनते हैं। उनमें बाप की प्रवेशता होती है तो भाग्यशाली बनते हैं। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा, यह 84 जन्मों की हिस्ट्री बुद्धि में रहनी चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप की याद से बुद्धि को रिफाइन बनाना है। बुद्धि पढ़ाई से सदा भरपूर रहे। बाप और घर सदा याद रखना है और याद दिलाना है।

2) इस अन्तिम जन्म में क्रिमिनल आई को समाप्त कर सिविल आई बनानी है। क्रिमिनल आंखों की बड़ी सम्भाल रखनी है।

वरदान:- याद और सेवा के बैलेन्स द्वारा चढ़ती कला का अनुभव करने वाले राज्य अधिकारी भव
याद और सेवा का बैलेन्स है तो हर कदम में चढ़ती कला का अनुभव करते रहेंगे। हर संकल्प में सेवा हो तो व्यर्थ से छूट जायेंगे। सेवा जीवन का एक अंग बन जाए, जैसे शरीर में सब अंग जरूरी हैं वैसे ब्राह्मण जीवन का विशेष अंग सेवा है। बहुत सेवा का चांस मिलना, स्थान मिलना, संग मिलना यह भी भाग्य की निशानी है। ऐसे सेवा का गोल्डन चांस लेने वाले ही राज्य अधिकारी बनते हैं।
स्लोगन:- परमात्म प्यार की पालना का स्वरूप है – सहजयोगी जीवन।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 October 2019

To Read Murli 29 October 2019:- Click Here
30-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – एक बाप की याद में रहना ही अव्यभिचारी याद है, इस याद से तुम्हारे पाप कट सकते हैं”
प्रश्नः- बाप जो समझाते हैं उसे कोई सहज मान लेते, कोई मुश्किल समझते – इसका कारण क्या है?
उत्तर:- जिन बच्चों ने बहुत समय भक्ति की है, आधाकल्प से पुराने भक्त हैं, वह बाप की हर बात को सहज मान लेते हैं क्योंकि उन्हें भक्ति का फल मिलता है। जो पुराने भक्त नहीं उन्हें हर बात समझने में मुश्किल लगता। दूसरे धर्म वाले तो इस ज्ञान को समझ भी नहीं सकते।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप बैठ समझाते हैं तुम बच्चे सब क्या कर रहे हो? तुम्हारी है अव्यभिचारी याद। एक होती है व्यभिचारी याद, दूसरी होती है अव्यभिचारी याद। तुम सबकी है अव्यभिचारी याद। किसकी याद है? एक बाप की। बाप को याद करते-करते पाप कट जायेंगे और तुम वहाँ पहुँच जायेंगे। पावन बनकर फिर नई दुनिया में जाना है। आत्माओं को जाना है। आत्मा ही इन आरगन्स द्वारा सब कर्म करती है ना। तो बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। मनुष्य तो अनेकानेक को याद करते हैं। भक्ति मार्ग में तुमको याद करना है एक को। भक्ति भी पहले-पहले तुमने ऊंच ते ऊंच शिव-बाबा की ही की थी। उनको कहा जाता है अव्यभिचारी भक्ति। वही सर्व को सद्गति देने वाला रचता बाप है। उनसे बच्चों को बेहद का वर्सा मिलता है। भाई-भाई से वर्सा नहीं मिलता। वर्सा हमेशा बाप से बच्चों को मिलता है। थोड़ा बहुत कन्याओं को मिलता है। वह तो फिर जाकर हाफ पार्टनर बनती है। यहाँ तो तुम सब आत्मायें हो। सब आत्माओं का बाप एक है। सबको बाप से वर्सा लेने का हक है। तुम हो भाई-भाई, भल शरीर स्त्री-पुरुष का है। आत्मा सब भाई-भाई हैं। वह तो सिर्फ कहने मात्र कह देते हैं हिन्दू-मुस्लिम भाई-भाई। अर्थ नहीं समझते। तुम अभी अर्थ समझते हो। भाई-भाई माना सब आत्मायें एक बाप के बच्चे हैं फिर प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे भाई-बहन हैं। अभी तुम जानते हो इस दुनिया से सबको वापस जाना है। जो भी मनुष्य मात्र हैं, सबका पार्ट अब पूरा होता है। फिर बाप आकर पुरानी दुनिया से नई दुनिया में ले जाते हैं, पार ले जाते हैं। गाते भी हैं – खिवैया पार लगाओ अर्थात् सुखधाम में ले चलो। यह पुरानी दुनिया बदलकर फिर नई दुनिया जरूर बननी है। मूलवतन से लेकर सारी दुनिया का नक्शा तुम्हारी बुद्धि में है। हम आत्मायें सब स्वीटधाम, शान्तिधाम की निवासी हैं। यह तो बुद्धि में याद है ना। हम जब सतयुगी नई दुनिया में हैं तो बाकी और सभी आत्मायें शान्तिधाम में रहती हैं। आत्मा तो कभी विनाश नहीं होती। आत्मा में अविनाशी पार्ट भरा हुआ है। वह कभी भी विनाश नहीं हो सकता। समझो यह इन्जीनियर है फिर 5 हज़ार वर्ष बाद हूबहू ऐसा ही इन्जीनियर बनेगा। यही नाम रूप देश काल रहेगा। यह सब बातें बाप ही आकर समझाते हैं। यह अनादि-अविनाशी ड्रामा है। इस ड्रामा की आयु 5 हज़ार वर्ष है। सेकण्ड भी कम जास्ती नहीं हो सकता। यह अनादि बना-बनाया ड्रामा है। सबको पार्ट मिला हुआ है। देही-अभिमानी हो, साक्षी हो खेल को देखना है। बाप को तो देह है नहीं। वह नॉलेजफुल है, बीजरूप है। बाकी आत्मायें जो ऊपर निराकारी दुनिया में रहती हैं वह फिर आती हैं नम्बरवार पार्ट बजाने। पहले-पहले नम्बर शुरू होता है देवताओं का। पहले नम्बर की ही डिनायस्टी के चित्र हैं फिर चन्द्रवंशी डिनायस्टी के भी चित्र हैं। सबसे ऊंच है सूर्यवंशी लक्ष्मी-नारायण का राज्य, उन्हों का राज्य कब कैसे स्थापन हुआ – कोई भी मनुष्यमात्र नहीं जानते। सतयुग की आयु ही लाखों वर्ष लिख दी है। कोई की भी जीवन कहानी को नहीं जानते। इन लक्ष्मी-नारायण की जीवन कहानी को जानना चाहिए। बिगर जाने माथा टेकना अथवा महिमा करना यह तो रांग है। बाप बैठ मुख्य-मुख्य जो हैं उनकी जीवन कहानी सुनाते हैं। अभी तुम जानते हो – कैसे इन्हों की राजधानी चलती है। सतयुग में श्रीकृष्ण था ना। अभी वह कृष्णपुरी फिर स्थापन हो रही है। कृष्ण तो है स्वर्ग का प्रिन्स। लक्ष्मी-नारायण की राजधानी कैसे स्थापन हुई – यह सब तुम समझते हो।

नम्बरवार माला भी बनाते हैं। फलाने-फलाने माला के दाने बनेंगे। परन्तु चलते-चलते फिर हार भी खा लेते हैं। माया हरा देती है। जब तक सेना में हैं, कहेंगे यह कमान्डर है, यह फलाना है। फिर मर पड़ते हैं। यहाँ मरना अर्थात् अवस्था कम होना, माया से हारना। खत्म हो जाते हैं। आश्चर्यवत् सुनन्ती, कथन्ती, भागन्ती….. अहो मम माया….. फारकती देवन्ती हो जाते हैं। मरजीवा बनते हैं, बाप का बनते हैं फिर राम-राज्य से रावणराज्य में चले जाते हैं। इस पर ही फिर युद्ध दिखलाई है – कौरव और पाण्डवों की। फिर असुरों और देवताओं की भी युद्ध दिखाई है। एक युद्ध दिखाओ ना। दो क्यों? बाप समझाते हैं यहाँ की ही बात है। लड़ाई तो हिंसा हो जाती, यह तो है ही अहिंसा परमो देवी-देवता धर्म। तुम अभी डबल अहिंसक बनते हो। तुम्हारी है ही योगबल की बात। हथियारों आदि से तुम कोई को कुछ करते नहीं। वह ताकत तो क्रिश्चियन में भी बहुत है। रशिया और अमेरिका दो भाई हैं। इन दोनों की है काम्पीटीशन, बॉम्ब्स आदि बनाने की। दोनों एक-दो से ताकत वाले हैं। इतनी ताकत है, अगर दोनों आपस में मिल जाएं तो सारे वर्ल्ड पर राज्य कर सकते हैं। परन्तु लॉ नहीं है जो बाहुबल से कोई विश्व पर राज्य पा सके। कहानी भी दिखाते हैं – दो बिल्ले आपस में लड़े, मक्खन बीच में तीसरा खा गया। यह सब बातें अब बाप समझाते हैं। यह थोड़ेही कुछ जानता था। यह चित्र आदि भी बाप ने ही दिव्य दृष्टि से बनवाये हैं और अब समझा रहे हैं, वह आपस में लड़ते हैं। सारे विश्व की बादशाही तुम ले लेते हो। वह दोनों हैं बहुत पॉवरफुल। जहाँ-तहाँ आपस में लड़ा देते हैं। फिर मदद देते रहते हैं क्योंकि उन्हों का भी व्यापार है जबरदस्त। सो जब दो बिल्ले आपस में लड़ें तब तो बारूद आदि काम आये। जहाँ-तहाँ दो को लड़ा देते हैं। यह हिन्दुस्तान-पाकिस्तान पहले अलग था क्या। दोनों इकट्ठे थे, यह सब ड्रामा में नूँध है। अभी तुम पुरुषार्थ कर रहे हो – योगबल से विश्व का मालिक बनें। वह आपस में लड़ते हैं, मक्खन बीच में तुम खा लेते हो। माखन अर्थात् विश्व की बादशाही तुमको मिलती है और बहुत ही सिम्पल रीति मिलती है। बाप कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, पवित्र जरूर बनना है। पवित्र बन पवित्र दुनिया में चलना है। उनको कहा जाता है वाइसलेस वर्ल्ड, सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया। हरेक चीज सतोप्रधान, सतो, रजो, तमो में जरूर आती है। बाप समझाते हैं – तुम्हारे में यह बुद्धि नहीं थी क्योंकि शास्त्रों में लाखों वर्ष कह दिया है। भक्ति है ही अज्ञान अन्धियारा। यह भी पहले तुमको पता थोड़ेही था। अब समझते हो वह तो कह देते कलियुग अभी 40 हज़ार वर्ष और चलेगा। अच्छा, 40 हज़ार वर्ष पूरा हो फिर क्या होगा? किसको भी यह पता नहीं है इसलिए कहा जाता है अज्ञान नींद में सोये हुए हैं। भक्ति है अज्ञान। ज्ञान देने वाला तो एक ही बाप ज्ञान का सागर है। तुम हो ज्ञान नदियाँ। बाप आकर तुम बच्चों को अर्थात् आत्माओं को पढ़ाते हैं। वह बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। और कोई भी ऐसे नहीं कहेंगे, यह हमारा बाप, टीचर, गुरू है। यह तो है बेहद की बात। बेहद का बाप, टीचर, सतगुरू है। खुद बैठ समझाते है मैं तुम्हारा सुप्रीम बाप हूँ, तुम सब हमारे बच्चे हो। तुम भी कहते हो – बाबा, आप वही हो। बाप भी कहते हैं तुम कल्प-कल्प मिलते हो। तो वह है परम आत्मा, सुप्रीम। वह आकर बच्चों को सब बातें समझाते हैं। कलियुग की आयु 40 हज़ार वर्ष और कहना बिल्कुल गपोड़ा है। 5 हज़ार वर्ष में सब आ जाता है। बाप जो समझाते हैं तुम मानते हो, समझते हो। ऐसे नहीं कि तुम नहीं मानते। अगर नहीं मानते तो यहाँ नहीं आते। इस धर्म के नहीं हैं तो फिर मानते नहीं हैं। बाप ने समझाया है सारा मदार भक्ति पर है। जिन्होंने बहुत भक्ति की है तो भक्ति का फल भी उन्हों को मिलना चाहिए। उन्हों को ही बाप से बेहद का वर्सा मिलता है। तुम जानते हो हम सो देवता विश्व के मालिक बनते हैं। बाकी थोड़े रोज़ हैं। इस पुरानी दुनिया का विनाश तो दिखाया हुआ है, और कोई शास्त्र में ऐसी बात है नहीं। एक गीता ही है भारत का धर्म शास्त्र। हरेक को अपना धर्म शास्त्र पढ़ना चाहिए और वह धर्म जिस द्वारा स्थापन हुआ उनको भी जानना चाहिए। जैसे क्रिश्चियन, क्राइस्ट को जानते हैं, उनको ही मानते हैं, पूजते हैं। तुम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के हो तो देवताओं को ही पूजते हो। परन्तु आजकल अपने को हिन्दू धर्म का कह देते हैं।

तुम बच्चे अब राजयोग सीख रहे हो। तुम राजऋषि हो। वह हैं हठयोग ऋषि। रात-दिन का फ़र्क है। उन्हों का सन्यास है कच्चा, हद का। सिर्फ घरबार छोड़ने का। तुम्हारा सन्यास वा वैराग्य है सारी पुरानी दुनिया को छोड़ने का। पहले-पहले अपने घर स्वीट होम में जाकर फिर नई दुनिया सतयुग में आयेंगे। ब्रह्मा द्वारा आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना होती है। अभी तो यह पतित पुरानी दुनिया है। यह समझने की बातें हैं। बाप द्वारा पढ़ते हैं। यह तो जरूर रीयल है ना। इसमें निश्चय न होने की तो बात ही नहीं। यह नॉलेज बाप ही पढ़ाते हैं। वह बाप टीचर भी है, सच्चा सतगुरू भी है, साथ ले जाने वाला। वो गुरू लोग तो आधा पर छोड़-कर चले जाते हैं। एक गुरू गया तो दूसरा गुरू करेंगे। उनके चेले को गद्दी पर बिठायेंगे। यहाँ तो है बाप और बच्चों की बात। वह फिर है गुरू और चेले के वर्से का हक। वर्सा तो बाप का ही चाहिए ना। शिवबाबा आते ही हैं भारत में। शिवरात्रि और कृष्ण की रात्रि मनाते हैं ना। शिव की जन्मपत्री तो है नहीं। सुनाये कैसे? उनकी तिथि-तारीख तो होती नहीं। कृष्ण जो पहला नम्बर वाला है, उनकी दिखाते हैं। दीपावली मनाना तो दुनिया के मनुष्यों का काम है। तुम बच्चों के लिए थोड़ेही दीपावली है। हमारा नया वर्ष, नई दुनिया सतयुग को कहा जाता है। अभी तुम नई दुनिया के लिए पढ़ रहे हो। अभी तुम हो पुरूषोत्तम संगमयुग पर। उन कुम्भ के मेलों में कितने ढेर मनुष्य जाते हैं। वह होता है पानी की नदियों पर मेला। कितने ढेर मेले लगते हैं। उन्हों की भी अन्दर बहुत पंचायत होती है। कभी-कभी तो उन्हों का आपस में ही बड़ा झगड़ा हो जाता है क्योंकि देह-अभिमानी हैं ना। यहाँ तो झगड़े आदि की बात ही नहीं। बाप सिर्फ कहते हैं – मीठे-मीठे लाडले बच्चों, मुझे याद करो। तुम्हारी आत्मा जो सतोप्रधान से तमोप्रधान बनी है, खाद पड़ी है ना, वह योग अग्नि से ही निक-लेगी। सोनार लोग जानते हैं, बाप को ही पतित-पावन कहते हैं। बाप सुप्रीम सोनार ठहरा। सबकी खाद निकाल सच्चा सोना बना देते हैं। सोना अग्नि में डाला जाता है। यह है योग अर्थात् याद की अग्नि क्योंकि याद से ही पाप भस्म होते हैं। तमोप्रधान से सतोप्रधान याद की यात्रा से ही बनना है। सब तो सतोप्रधान नहीं बनेंगे। कल्प पहले मिसल ही पुरूषार्थ करेंगे। परम आत्मा का भी ड्रामा में पार्ट नूँधा हुआ है, जो नूँध है वह होता रहता है। बदल नहीं सकता। रील फिरता ही रहता है। बाप कहते हैं आगे चल तुमको गुह्य-गुह्य बातें सुनायेंगे। पहले-पहले तो यह निश्चय करना है – वह है सब आत्माओं का बाप। उनको याद करना है। मनम-नाभव का भी अर्थ यह है। बाकी कृष्ण भगवानुवाच तो है ही नहीं। अगर कृष्ण हो फिर तो सब उनके पास चले आयें। सब पहचान लें। फिर ऐसे क्यों कहते कि मुझे कोटों में कोई जानते हैं। यह तो बाप समझाते हैं इसलिए मनुष्यों को समझने में तकल़ीफ होती है। आगे भी ऐसा हुआ था। मैंने ही आकर देवी-देवता धर्म की स्थापना की थी फिर यह शास्त्र आदि सब गुम हो जाते हैं। फिर अपने समय पर भक्ति मार्ग के शास्त्र आदि सब वही निकलेंगे। सतयुग में एक भी शास्त्र नहीं होता। भक्ति का नाम-निशान नहीं। अभी तो भक्ति का राज्य है। सबसे बड़े ते बड़े हैं श्री श्री 108 जगतगुरू कहलाने वाले। आजकल तो एक हज़ार आठ भी कह देते हैं। वास्तव में यह माला है यहाँ की। माला जब फेरते हैं तो जानते हैं फूल निराकार है फिर है मेरू। ब्रह्मा-सरस्वती युगल दाना क्योंकि प्रवृत्ति मार्ग है ना। प्रवृत्ति मार्ग वाले निवृत्ति मार्ग वालों को गुरू करेंगे तो क्या देंगे? हठयोग सीखना पड़े। वह तो अनेक प्रकार के हठयोग हैं, राजयोग है ही एक प्रकार का। याद की यात्रा है ही एक, जिसको राजयोग कहा जाता है। बाकी और सब हैं हठयोग, शरीर की तन्दुरूस्ती के लिए। यह राजयोग बाप ही सिखलाते हैं। आत्मा है फर्स्ट फिर पीछे है शरीर। तुम फिर अपने को आत्मा के बदले शरीर समझ उल्टे हो पड़े हो। अब अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस अनादि अविनाशी बने-बनाये ड्रामा में हरेक के पार्ट को देही-अभिमानी बन, साक्षी होकर देखना है। अपने स्वीट होम और स्वीट राजधानी को याद करना है, इस पुरानी दुनिया को बुद्धि से भूल जाना है।

2) माया से हारना नहीं है। याद की अग्नि से पापों का नाश कर आत्मा को पावन बनाने का पुरू-षार्थ करना है।

वरदान:- हद के नाज़-नखरों से निकल रूहानी नाज़ में रहने वाले प्रीत बुद्धि भव
कई बच्चे हद के स्वभाव, संस्कार के नाज़-नखरे बहुत करते हैं। जहाँ मेरा स्वभाव, मेरे संस्कार यह शब्द आता है वहाँ ऐसे नाज़ नखरे शुरू हो जाते हैं। यह मेरा शब्द ही फेरे में लाता है। लेकिन जो बाप से भिन्न है वह मेरा है ही नहीं। मेरा स्वभाव बाप के स्वभाव से भिन्न हो नहीं सकता, इसलिए हद के नाज़ नखरे से निकल रूहानी नाज़ में रहो। प्रीत बुद्धि बन मोहब्बत की प्रीत के नखरे भल करो।
स्लोगन:- बाप से, सेवा से और परिवार से मुहब्बत है तो मेहनत से छूट जायेंगे।

TODAY MURLI 30 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 30 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 29 October 2019:- Click Here

30/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, to stay in remembrance of the one Father alone is to have unadulterated remembrance. It is by having this remembrance that your sins can be cut away.
Question: What is the reason why some people are easily able to accept the things that the Father explains whereas others find it difficult?
Answer: The children who have performed devotion for a long time, who have been the old devotees of half the cycle, are easily able to accept everything that the Father says because they receive the fruit of their devotion. Those who are not old devotees find it difficult to understand everything. Those of other religions are not even able to understand this knowledge.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to the sweetest spiritual children. What are all of you children doing? Your remembrance is unadulterated. One is adulterated remembrance and the other is unadulterated remembrance. All of you have unadulterated remembrance. It is remembrance of whom? Of the one Father. By remembering the Father, your sins will be cut away and you will reach there. You have to become pure and then go to the new world. Souls have to go there. It is souls that perform all actions through these organs. The Father says: Consider yourselves to be souls and remember the Father. All human beings remember many others. On the path of devotion, you had to remember the One. At first, you performed devotion of only the Highest on High, Shiv Baba. That is called unadulterated devotion. The Father, the Creator, is the One who grants salvation to all. All of you children receive the unlimited inheritance from Him. You don’t receive an inheritance from brothers. Male children always receive an inheritance from their father. Daughters also receive a little. They then go and become half-partners. Here, all of you are souls and the Father of all souls is One. Everyone has a right to claim their inheritance from the Father. Whether you have a male or a female body, you are all brothers; all souls are brothers. Those people simply say for the sake of saying it that Hindus and Muslims are brothers, but they don’t understand the meaning of that. You now understand the meaning of it. “Brothers” means that all souls are the children of the one Father, and then, as children of Prajapita Brahma, all are brothers and sisters. You now know that everyone has to go back there from this world. The parts of all human beings are now coming to an end. The Father has come to take you from the old world to the new world. He takes you across. People sing: O Boatman, take us across! That is, take us to the land of happiness. This old world definitely has to change and become the new world. Starting from the incorporeal world, you have the map of the whole world in your intellects. We souls are all residents of the sweet land, the land of peace. You keep this in your intellects. When we are in the golden-aged, new world, all other souls reside in the land of peace. Souls are never destroyed. Souls have imperishable parts recorded in them which can never be destroyed. For instance, if someone is an engineer, then, exactly 5000 years later, he will become an engineer in the same way; he will have the same name, form, time and place. Only the Father comes and explains all of these things. This drama is eternal and imperishable and its duration is 5000 years. It cannot be longer or shorter by even a second. This is the eternally predestined drama. Everyone has received his own part. You have to become soul conscious and watch the play as detached observers. The Father does not have a body of His own. He is knowledge-full and the Seed, and all the souls who reside up above in the incorporeal world come down here, numberwise, to play their parts. The first number belongs to the deities. There are the pictures of the number one dynasty and then the pictures of the moon dynasty. The highest is the kingdom of the sun-dynasty Lakshmi and Narayan. No human beings know when or how their kingdom was established. They have written that the duration of the golden age was hundreds of thousands of years. They do not know the biography of anyone. They should know the biography of Lakshmi and Narayan. It is wrong to bow down to them or to sing their praise without knowing them. The Father sits here and tells you the biography of the main ones. You now know how they ruled their kingdom. Shri Krishna existed in the golden age. The land of Shri Krishna is once again being established. Krishna was a prince of heaven. You understand how the kingdom of Lakshmi and Narayan was established. A rosary is created, numberwise. So-and-so will become a bead of the rosary but, whilst moving along, some are defeated; Maya defeats them. It would be said of those in an army that this one is the Commander, this one is so-and-so, and then they die. Here, to die means to lose your stage, that is, to be defeated by Maya; they then die. There are those who were amazed by the knowledge, listened to it, related it to others and then ran away. Oh Maya! They became those who divorce the Father. They die alive, they belong to the Father and then leave the kingdom of Rama and go to the kingdom of Ravan. The war they have shown between the Kauravas and the Pandavas was based on this. They have also shown a war between the deities and the devils. They should show just one war! Why two? The Father explains that those things refer to here. War means violence. This is the supreme deity religion of non-violence. You are now becoming doubly non-violent. Yours is a matter of the power of yoga. You don’t do anything to anyone with weapons etc. Those Christians have a lot of power to do that. Russia and America are two brothers. They compete with one another in making bombs etc. Each is more powerful than the other. They have so much power that if they were to unite, they could rule the world. However, it is not the law that anyone can attain the rule of the world with physical power. They show the story of two cats fighting and a third one in between eating the butter. The Father explains all of those things at this time. This one did not know anything. The Father has had these pictures etc. made with divine visions and He is now also explaining how those people fight each other. You take the sovereignty of the whole world. Both of them are very powerful. They make countries fight each other and then continue to give help because their business is very powerful. It is only when two cats fight each other that all the armaments etc. would be of use. They make two countries fight each other. Were Hindustan and Pakistan separate previously? The two were united. All of this is fixed in the drama. You are now making effort to become the masters of the world through the power of yoga. Those people fight each other and, in between, you eat the butter. You receive the butter, that is, the sovereignty of the world and you receive it in a very simple way. The Father says: Sweetest children, you definitely have to become pure. You have to become pure and go to the pure world. That is called the viceless world, the completely viceless world. Everything definitely goes through the stages of satopradhan, sato, rajo and tamo. The Father explains: You didn’t have wisdom previously because they have written about hundreds of thousands of years in the scriptures. Devotion is the darkness of ignorance. Previously, you didn’t know this. You now understand that those people say that the iron age will continue for another 40,000 years. Achcha, what will happen when you reach the end of 40,000 years? No one knows. This is why it is said that they are sleeping in the sleep of ignorance. Devotion is ignorance. It is only the one Father, the Ocean of Knowledge, who gives knowledge. You are also rivers of knowledge. The Father comes and teaches you children, that is, you souls. He is the Father, Teacher and Satguru. No one else would say: That One is our Father, Teacher and Guru. This is an unlimited matter. He is the unlimited Father, Teacher and Satguru. He Himself sits here and explains to you: I am your Supreme Father and all of you are My children. You say: Baba, You are that same One. The Father also says: I meet you every cycle. He is the Supreme Soul, the Supreme. He comes here and explains everything to you children. It is a complete lie to say that the duration of the iron age is 40,000 years. Everything is included in 5000 years. You believe what the Father tells you and you understand it. It isn’t that you don’t believe it. If you didn’t believe it, you wouldn’t come here. If you didn’t belong to this religion, you would not believe it. The Father has explained that everything depends on devotion. Those who have performed a lot of devotion have to receive the fruit of their devotion. They are the ones who receive the unlimited inheritance from the Father. You know that you are becoming deities, the masters of the world. Only a few more days remain. The destruction of this old world has been shown. Such things are not mentioned in any other scriptures. It is only the Gita that is the religious scripture of Bharat. Everyone should study their own religious scripture and should also know the One who established that religion, just as Christians know Christ. They know him and worship him alone. You belong to the original eternal deity religion and so you only worship the deities. However, nowadays, people say that they belong to the Hindu religion. You children are now studying Raj Yoga. You are Raj Rishis whereas those people are hatha yoga rishis. There is the difference of day and night. Their renunciation, of just renouncing their homes and families, is weak and limited. Your renunciation and disinterest is to leave the whole of the old world. You will first go to your home, the sweet home, and then to the golden age in the new world. The original eternal deity religion is established through Brahma. This is now the old impure world. These matters have to be understood. You are studying with the Father. This is definitely real. There is no question of not having faith in this. Only the Father teaches this knowledge. That Father is also the Teacher and the true Satguru who takes us back with Him. Those gurus leave you half way and depart. When a guru departs, they then make another one the guru; they would sit his disciple on the gaddi. Here, it is a matter of the Father and the children. There, it is the guru and the right of the disciples to that inheritance. The inheritance can only be from the Father. Shiv Baba only comes in Bharat. People celebrate the night of Shiva and the night of Krishna. There is no horoscope of Shiva, so how can tell anything? There is no time or date for Him. They show the time and date of Krishna who is number one. To celebrate Deepawali is something that people of the world do. Deepawali is not for you children. Our New Year and new world are called the golden age. You are now studying for the new world. You are now at the most auspicious confluence age. So many people go to those kumbha melas. Those melas are on the river banks. There are so many melas that take place. They too have their own ruling body. Sometimes, they have big quarrels among themselves because they are body conscious. Here, there is no question of quarrelling etc. The Father simply says: Sweetest, beloved children, remember Me! You souls have become tamopradhan from satopradhan. You have alloy mixed in you and that can only be removed with the fire of yoga. Goldsmiths know this. Only the Father is called the Purifier. The Father is the Supreme Goldsmith. He removes everyone’s alloy and makes them into real gold. Gold is put on to a fire. This is yoga, that is, the fire of remembrance, because it is only by having remembrance that your sins can be burnt away. It is only by going on the pilgrimage of remembrance that you will become satopradhan from tamopradhan. Not everyone will become satopradhan. Everyone will make effort as they did in the previous cycle. The part of the Supreme Soul is also fixed in the drama and whatever is fixed will continue to take place; it cannot be changed; the reel continues to turn. The Father says: As you progress further, the Father will tell you deeper things. First of all, have the faith that He is the Father of all souls. Remember Him! This is the meaning of “Manmanabhav”. It cannot be said that God Krishna speaks. If it were Krishna speaking, everyone would go to him; everyone would recognize him. In that case, why would it be said that only a handful out of multimillions know Me? The Father explains this and that is why people find it difficult to understand. The same thing happened previously too. I came and established the deity religion. All of these scriptures etc. will disappear. Then, the same scriptures will emerge again at their own time on the path of devotion. In the golden age, there isn’t a single scripture. There is no name or trace of devotion. Now it is the kingdom of devotion. The greatest of all are those who call themselves Shri Shri 108 Jagadguru. Nowadays, they even call themselves 1008! In fact, that rosary refers to here. When people rotate a rosary, they know that the tassel represents the incorporeal One and then there is the dual-bead. Brahma and Saraswati are the dual-bead because this is the family path. What would those of the family path give to those of the path of isolation if they were to make them their gurus? They would have to study hatha yoga. There are many types of hatha yoga but only one type of Raj Yoga. There is just the one pilgrimage of remembrance which is called Raj Yoga. All the rest is hatha yoga for the health of one’s body. Only the Father teaches this Raj Yoga. The soul is first and then the body. By considering yourselves to be bodies instead of souls, you have become the wrong way round. Now consider yourselves to be souls and remember the Father and your final thoughts will lead you to your destination. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become soul conscious and watch each one’s part as a detached observer in this eternally, imperishable, predestined drama. Remember your sweet home and your sweet kingdom. Remove this old world from your intellect.
  2. Do not be defeated by Maya. You souls must make effort to become pure by burning your sins away in the fire of remembrance.
Blessing: May you have a loving intellect and stay in spiritual pleasure by moving away from childish, mischievous behaviour.
Some children behave in a childish, mischievous manner due to their limited nature and sanskars. When it comes to “my nature” or “my sanskars”, they begin to behave in a childish, mischievous manner. This word “mine” (mera) puts you into a spin (fera). However, that which is different from the Father is not “mine”. My nature cannot be different from the Father’s nature. Therefore, move away from behaving in a childish, mischievous manner in a limited way and stay in spiritual pleasure. Have a loving intellect and you may behave in a playful manner out of love.
Slogan: When you have love for the Father, for service and the family, you will be liberated from making effort.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 30 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 October 2018 :- Click Here

30/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the happiness of knowledge continues for 21 generations. That is the constant happiness of heaven. On the path of devotion, when they do intense devotion, they receive momentary happiness.
Question: By following which shrimat can you children attain salvation?
Answer: The Father’s shrimat is: Forget this old world and remember Me alone. This is known as surrendering yourself or dying alive. By following this shrimat, you become the most elevated of all. You then receive salvation. Corporeal human beings cannot grant salvation to human beings. The Father alone is the Bestower of Salvation for all.
Song: Salutations to Shiva. 

Om shanti. You children heard the song. It is sung: God is the Highest on High. Human beings don’t know God’s name. Devotees cannot know God until God comes and gives the devotees His own introduction. It has been explained that there is knowledge and devotion. The golden and silver ages are the reward of knowledge. You are now receiving knowledge from the Ocean of Knowledge and, by making effort, you are creating your reward of constant happiness. Then, in the copper and iron ages, there will be devotion. The reward of knowledge continues through the golden and silver ages. The happiness of knowledge continues for 21 generations. That is the constant happiness of heaven. In hell, there is momentary happiness. It is explained to you children that when there were the golden and silver ages, the path of knowledge, there was the new world, new Bharat. That is called heaven. Bharat has now become tamopradhan hell. There are many types of sorrow. In heaven, there is no name or trace of sorrow. There is no need to adopt a guru. It is God alone who has to uplift the devotees. It is now the end of the iron age and destruction is just in front of you. The Father comes, gives you knowledge through Brahma and establishes heaven. He inspires destruction through Shankar and sustenance through Vishnu. No one understands the acts of God. Human beings are said to be sinful souls or charitable souls. It is not said: Sinful Supreme Soul or Charitable Supreme Soul. A great soul would be called a great soul; he wouldn’t be called a great Supreme Soul. Souls become pure. The Father has explained: First of all, the main religion is the deity religion. At that time, it was just the sun dynasty that ruled the kingdom; there wasn’t the moon dynasty. There was just the one religion. There were palaces of gold and silver in Bharat. All the roofs and walls were decorated with diamonds and jewels. Bharat was like a diamond. That same Bharat has now become like shells. The Father says: I come at the end of the cycle. I come at the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. I make Bharat into heaven once again through you mothers. You are the Shiv Shaktis, the Pandava Army. Pandavas have love for the one Father. The Father is teaching them. All the scriptures etc. are the paraphernalia of the path of devotion. Those are the devotion cult s. The Father now comes and gives everyone knowledge, the fruit of devotion, through which you go into salvation. The Bestower of Salvation, the Father of all, is just the One. The Father alone is called the Ocean of Knowledge. Human beings cannot grant liberation or liberation-in-life to human beings. This knowledge is not in any of the scriptures. The Father alone is called the Ocean of Knowledge. You claim your inheritance from Him and you will then become full of all virtues, 16 celestial degrees full. This is the praise of the deities. Lakshmi and Narayan are 16 celestial degrees full and Rama and Sita are 14 degrees. This is a study. This is not a common spiritual gathering. Only the One is the Truth. He alone comes and explains the truth. This is the impure world. There are no impure beings in the pure world and no pure beings in the impure world. Only the one Father is the One who makes you pure. The soul says: Salutations to Shiva. The soul said salutations to his Father. If someone says that Shiva exists in him, in that case, to whom is he bowing down? This ignorance has spread. The Father is now making you children trikaldarshi. You know that the place where all souls reside is the land of nirvana, your sweet home. Everyone remembers liberation where we souls reside with the Father. You are now remembering the Father. When you go to the land of happiness, you will not remember the Father. This is the land of sorrow; everyone is in degradation. There was new Bharat in the new world. That was the land of happiness. There were the sun dynasty and the moon dynasty kingdoms. People don’t know what the connection is between Lakshmi and Narayan and Radhe and Krishna. That princess and prince are each from separate kingdoms. It isn’t that they are brother and sister. She was in her separate kingdom and Krishna was a prince in his own kingdom. When they married, they became Lakshmi and Narayan. In the golden age, everything gives happiness whereas in the iron age, everything causes sorrow. In the golden age, no one has untimely death. You children know that you study easy Raja Yoga with the Supreme Father, the Supreme Soul, in order to change from an ordinary man into Narayan and an ordinary woman into Lakshmi. This is a school. There is no aim or objective in those spiritual gatherings. They simply continue to relate the Vedas and scriptures etc. You have now come to know the human world cycle from the Father. The Father alone is called the Knowledgefull One, the Blissful and Merciful One. You sing: O Baba, come and have mercy! Only Heavenly God, the Father , comes and establishes heaven at the confluence age. There are very few human beings in heaven. Where will all the rest of the people go? The Father takes everyone to the land of liberation. There was just Bharat in heaven, and later on, too, just Bharat will remain. Bharat, the land of truth, is remembered here. At present, Bharat has become poverty-stricken. It continues to beg for every penny. Bharat was like a diamond and is now worth a shell. This secret of the drama has to be understood. You know the Father, the Creator, and the beginning, middle and end of His creation. The Congress people sing: Salutations to the mothers. However, it is only pure ones who are praised. God Himself comes and begins to say: Salutations to the mothers. Shiv Baba Himself came and said: Women are the gateway to heaven. There is the Shakti Army. They are the ones who will bring about the kingdom of heaven. That is called the World Almighty Authority Kingdom. You Shaktis established self-sovereignty and it is now once again being established. The golden age is called the kingdom of Rama. Even now, they say: There should be the kingdom of Rama. However, no human being can do this. Incorporeal God , the Father , Himself comes and teaches you. He too definitely needs a body. He definitely has to enter the body of Brahma. Shiv Baba is the Father of all of you souls. Prajapita has also been remembered. Pita is the Father. Brahma is called the great-great-grandfather. Both Adi Dev and Adi Devi are sitting here doing tapasya. You too are doing tapasya. This is Raja Yoga. Sannyasis have hatha yoga; they can never teach Raja Yoga. The scriptures and the Gita etc. are the paraphernalia of the path of devotion. They have been studying those but have continued to become impure. This is the same Mahabharat War through which destruction is to take place. There is no science in the Vedas. There are things of knowledge in that. It is the wonder of a scientific intellect that it invents inventions. They invent vimans (planes) etc. for happiness. Then, later, destruction takes place through them. Skills for happiness will remain in Bharat, and the skills for sorrow and for killing one another will end. The wisdom of science will continue. These bombs etc. were manufactured in the previous cycle too. The new world has to be established and the impure world then has to be destroyed. The Father says: You have completed your 84 births. Now renounce the arrogance of those bodies and remember Me, your Father, and your sins will be absolved in the fire of the yoga of remembrance. Ravan has made you perform many sinful actions. There is just one way to become pure. You are souls anyway. You say: I am a soul. You would not say that you are the Supreme Soul. You say: Do not upset my soul! It is a very big mistake to say that the soul is the Supreme Soul. Devotion is now tamopradhan and adulterated. They just sit and worship whoever comes in front of them. The remembrance of One is called unadulterated. Adulterated devotion is now to end. The Father comes and gives you your unlimited inheritance. It is the Father and none other who gives everyone happiness. The Father says: By connecting your intellects in yoga to Me alone, your final thoughts will lead you to your destination. I am the Creator of heaven. This is the world of thorns. They continue to fight and quarrel among themselves. This old world is now changing. The urn of the nectar of knowledge is placed on the mothers. This is knowledge but, in comparison to poison, it is called nectar. It is said: Why should I renounce nectar and drink poison? You will become elevated by following shrimat. The Supreme Father, the Supreme Soul, comes and gives shrimat. Krishna also became that by following shrimat. These matters have to be understood. You have to forget the whole of the old world and remember the one Father. It is now that you have to surrender yourselves. This is known as dying alive. The things of the path of devotion are separate. Those are the devotion cult s. There are many gurus of devotion. However, only the one incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is the Bestower of Salvation. Corporeal human beings cannot grant salvation to human beings. They cannot give happiness for all time. It is the Father who gives happiness for all time. This is a school. The Father tells you the aim and objective. He says: You are to receive your inheritance of the happiness of heaven. All the rest will go to the land of liberation. There is the land of peace, the land of happiness and this is the land of sorrow. This cycle continues to turn. This is called the discus of self-realisation. No one can be liberated from the cycle of this drama. Each one has a predestined, imperishable part. The Father is teaching you and changing you from human beings into deities. Then, it depends on how much each one of you studies. Some will become kings and others will become subjects. There is the sun dynasty. When there was the sun dynasty in the golden age, there wasn’t anyone else. The land of Bharat was the highest-on-high land of truth. It has now become the land of falsehood. This is called the extreme depths of hell. There is so much violence over money. There, nothing is lacking for which they would have to commit sin. The Father Himself is making this degraded world elevated through you mothers. The Father says to them: Salutations to the mothers. Sannyasis do not say: Salutations to the mothers. Their renunciation is limited. This is unlimited renunciation. The whole world has to be renounced by the intellect. You have to remember the land of silence and the land of happiness. Forget the land of sorrow. This is the Father’s order. The Father is explaining to you souls and you are listening through your ears. Shiv Baba is explaining to you through these organs. He is the Ocean of Knowledge. That One is not a sage, saint or great soul. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Surrender yourself totally to the Father. Renounce the arrogance of the body and have your sins absolved in the fire of yoga.
  2. Study while keeping your aim and objective in your intellect. Keeping the predestined drama in your intellect, become a spinner of the discus of self-realisation.
Blessing: May you be a contented idol who attains the throne of a future kingdom with the certificate of contentment.
“I have to remain content and make everyone content”. Let this slogan be written on the board of your forehead because those who have this certificate will claim the certificate of the fortune of the future kingdom. So, every morning at amrit vela, bring this slogan into your awareness. Just as you write slogans on boards, in the same way, let this slogan always be written on the board of your forehead and you will all become contented idols. Those who are content are always happy.
Slogan: Those who have loving and contented interaction with everyone become images of success.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 October 2018

To Read Murli 29 October 2018 :- Click Here
30-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – ज्ञान का सुख 21 पीढ़ी चलता है, वह है स्वर्ग का सदा सुख, भक्ति में तीव्र भक्ति से अल्पकाल क्षण भंगुर सुख मिलता है”
प्रश्नः- किस श्रीमत पर चलकर तुम बच्चे सद्गति को प्राप्त कर सकते हो?
उत्तर:- बाप की तुम्हें श्रीमत है – इस पुरानी दुनिया को भूल एक मुझे याद करो। इसी को ही बलिहार जाना अथवा जीते जी मरना कहा जाता है। इसी श्रीमत से तुम श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ बनते हो। तुम्हारी सद्गति हो जाती है। साकार मनुष्य, मनुष्य की सद्गति नहीं कर सकते। बाप ही सबका सद्गति दाता है।
गीत:- ओम् नमो शिवाए……… 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। गाया जाता है ऊंचे ते ऊंचा भगवान्। अब भगवान् का नाम तो मनुष्यमात्र नहीं जानते। भक्त भगवान् को नहीं जानते, जब तक कि भगवान् आकर भक्तों को अपनी पहचान न दे। यह तो समझाया गया है – ज्ञान और भक्ति। सतयुग त्रेता है ज्ञान की प्रालब्ध। अभी तुम ज्ञान सागर से ज्ञान पाकर पुरुषार्थ से अपनी सदा सुख की प्रालब्ध बना रहे हो फिर द्वापर-कलियुग में भक्ति होती है। ज्ञान की प्रालब्ध सतयुग-त्रेता तक चलती है। ज्ञान का सुख तो 21 पीढ़ी चलता है। वह हैं स्वर्ग के सदा सुख। नर्क का है अल्पकाल क्षण भंगुर सुख। बच्चों को समझाया जाता है सतयुग-त्रेता ज्ञान मार्ग था, नई दुनिया, नया भारत था। उसको स्वर्ग कहा जाता है। अभी तमोप्रधान भारत नर्क हो गया है। अनेक प्रकार के दु:ख हैं। स्वर्ग में दु:ख का नाम-निशान नहीं रहता। गुरू करने की दरकार ही नहीं। भक्तों का उद्धार भगवान् को ही करना है। अभी कलियुग का अन्त है, विनाश सामने खड़ा है। बाप आकर ब्रह्मा द्वारा ज्ञान देकर स्वर्ग की स्थापना करते हैं और शंकर द्वारा विनाश, विष्णु द्वारा पालना कराते हैं। परमात्मा के कर्तव्य को कोई समझते नहीं। मनुष्य को पाप आत्मा, पुण्य आत्मा कहा जाता है, पाप परमात्मा, पुण्य परमात्मा नहीं कहा जाता। महात्मा को भी महान् आत्मा कहेंगे, महान् परमात्मा नहीं कहेंगे। आत्मा पवित्र बनती है। बाप ने समझाया है – पहले-पहले मुख्य है देवी देवता धर्म, उस समय सूर्यवंशी ही राज्य करते थे, चन्द्रवंशी नहीं थे, एक धर्म था। भारत में सोने-चांदी के महल थे, हीरे जवाहरों से छतें-दीवारें सब सजी हुई थी। भारत हीरे जैसा था, वही भारत अब कौड़ी मिसल बना है। बाप कहते हैं मैं कल्प के अन्त में, सतयुग आदि के संगम पर आता हूँ। भारत को माताओं द्वारा फिर से स्वर्ग बनाता हूँ। यह है शिव शक्ति, पाण्डव सेना। पाण्डवों की प्रीत एक बाप से है। उन्हों को बाप पढ़ाते हैं। शास्त्र आदि हैं सब भक्ति मार्ग की सामग्री। वह है भक्ति कल्ट। अभी बाप आकर सबको भक्ति का फल ज्ञान देते हैं, जिससे तुम सद्गति में जाते हो। सद्गति दाता सबका बाप एक ही है। बाप को ही ज्ञान सागर कहा जाता है। बाकी मनुष्य, मनुष्य को मुक्ति-जीवनमुक्ति दे नहीं सकते। यह ज्ञान कोई शास्त्रों में नहीं है। ज्ञान सागर एक बाप को ही कहा जाता है, उनसे तुम वर्सा लेते हो फिर सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण बन जायेंगे। यह देवताओं की महिमा है। लक्ष्मी-नारायण हैं 16 कला सम्पूर्ण, राम-सीता हैं 14 कला। यह पढ़ाई है। यह कोई कॉमन सतसंग नहीं है। सत है ही एक, वही आकर सत समझाते हैं। यह है ही पतित दुनिया। पावन दुनिया में पतित होते ही नहीं, पतित दुनिया में पावन होते नहीं। पावन बनाने वाला एक ही बाप है। आत्मा कहती है शिवाए नम:, आत्मा ने अपने बाप को कहा नमस्ते। अगर कोई कहते शिव मेरे में है तो फिर नमस्कार किसको करते हैं। यह अज्ञान फैला हुआ है। अब तुम बच्चों को बाप त्रिकालदर्शी बनाते हैं। तुम जानते हो सब आत्मायें जहाँ रहती हैं वह है निर्वाणधाम, स्वीट होम। मुक्ति को तो सभी याद करते हैं, जहाँ हम बाप के साथ रहते हैं। अभी तुम बाप को याद करते हो। सुखधाम में जायेंगे तो बाप को याद नहीं करेंगे। अभी यह है ही दु:खधाम, सभी दुर्गति में हैं। नई दुनिया में भारत नया था, सुखधाम था, सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी राज्य था। मनुष्यों को तो यह पता नहीं है कि लक्ष्मी-नारायण और राधे-कृष्ण का क्या कनेक्शन है? वह राजकुमारी, वह राजकुमार अलग-अलग राज्य के हैं। ऐसे नहीं कि दोनों ही आपस में भाई-बहिन हैं। वह अलग अपनी राजधानी में थी, कृष्ण अपनी राजधानी का राजकुमार था। उन्हों का स्वयंवर होता है तो लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। सतयुग में हर चीज सुख देने वाली है, कलियुग में हर चीज दु:ख देने वाली है। सतयुग में किसी की अकाले मृत्यु नहीं होती। तुम बच्चे जानते हो हम अपने परमपिता परमात्मा बाप से सहज राजयोग सीखते हैं – नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनने के लिये। यह स्कूल है। उन सतसंगों आदि में तो कोई एम आब्जेक्ट नहीं होती। वेद-शास्त्र आदि सुनाते रहते हैं। बाप के द्वारा तुम इस मनुष्य सृष्टि चक्र को अब जान गये हो। बाप को ही नॉलेजफुल, ब्लिसफुल, रहमदिल कहा जाता है। गाते हैं – ओ बाबा, आकर रहम करो। हेविनली गॉड फादर ही आकर हेविन स्थापन करते हैं संगम पर।

हेविन में बहुत थोड़े मनुष्य होते हैं। बाकी इतने सभी कहाँ जायेंगे? बाप सभी को मुक्तिधाम में ले जाते हैं। स्वर्ग में सिर्फ भारत ही था, फिर भी भारत ही रहेगा। भारत सचखण्ड यहाँ गाया हुआ है। अभी तो भारत कंगाल बन गया है। पैसे-पैसे के लिए भीख मांगते रहते हैं। भारत हीरे जैसा था, अब कौड़ी मिसल है। यह ड्रामा के राज़ को समझना है। तुम रचयिता बाप को और उनकी रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। कांग्रेसी लोग गाते भी हैं वन्दे मातरम्। परन्तु वन्दना पवित्र की ही की जाती है। परमात्मा ही आकर वन्दे मातरम् कहना शुरू करते हैं। शिवबाबा ने ही आकर कहा है – नारी स्वर्ग का द्वार है। शक्ति सेना है ना। यह स्वर्ग का राज्य दिलाने वाली है। जिसको ही वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी राज्य कहा जाता है। तुम शक्तियों ने स्वराज्य स्थापन किया था, अब फिर से स्थापन हो रहा है। रामराज्य कहा जाता है सतयुग को। अभी भी कहते हैं रामराज्य हो। परन्तु वह कोई मनुष्य तो कर न सके। इनकारपोरियल गॉड फादर ही आकर पढ़ाते हैं। उनको भी जरूर शरीर चाहिए। जरूर ब्रह्मा तन में आना पड़े। शिवबाबा तो तुम सब आत्माओं का बाप है। प्रजापिता भी गाया हुआ है। पिता तो बाप ठहरा ना। ब्रह्मा को ग्रेट ग्रेट ग्रैन्ड फादर कहा जाता है। आदि देव और आदि देवी दोनों बैठे हैं, तपस्या कर रहे हैं। तुम भी तपस्या कर रहे हो। यह है राजयोग। सन्यासियों का है हठयोग। वह कभी राजयोग सिखला नहीं सकते। गीता आदि जो भी शास्त्र हैं वह सब हैं भक्ति मार्ग की सामग्री। पढ़ते आये हैं परन्तु तमोप्रधान बन गये हैं। यह वही महाभारत लड़ाई है जिससे विनाश होना है। साइन्स कोई वेदों में नहीं है। उनमें तो ज्ञान की बातें हैं। यह साइन्स बुद्धि का चमत्कार है जो इन्वेन्शन निकालते रहते हैं। विमान आदि बनाते हैं सुख के लिए। फिर पिछाड़ी में इनके द्वारा ही विनाश होता है। यह सुख का हुनर भारत में रह जायेगा। दु:ख का हुनर, मारने आदि का ख़लास हो जायेगा। साइन्स का अक्ल चला आता है। यह बाम्ब्स आदि कल्प पहले भी बने थे। पतित दुनिया का विनाश फिर नई दुनिया की स्थापना होनी है। बाप कहते हैं तुमने 84 जन्म पूरे किये हैं, अब इस देह का अहंकार छोड़ मुझ बाप को याद करो तो याद की योग अग्नि से विकर्म विनाश होंगे। रावण ने तुमसे बहुत विकर्म कराये हैं। पावन बनने का तो एक ही उपाय है। तुम आत्मा तो हो ही। कहते भी हो मैं आत्मा, ऐसे नहीं कहेगे मैं परमात्मा हूँ। कहते हो मेरी आत्मा को रंज (नाराज) मत करो। आत्मा सो परमात्मा कहना यह तो बहुत बड़ी भूल है। अभी है तमोप्रधान व्यभिचारी भक्ति। जो आया उनको बैठ पूजते हैं। अव्यभिचारी एक की याद को कहा जाता है। अब व्यभिचारी भक्ति का भी अन्त होना है। बाप आकर बेहद का वर्सा देते हैं। सभी को सुख देने वाला एक बाप है, दूसरा न कोई। बाप कहते हैं मुझ एक के साथ बुद्धियोग जोड़ने से ही अन्त मती सो गति हो जायेगी। मैं हूँ ही स्वर्ग का रचयिता। यह कांटों की दुनिया है। एक-दो में लड़ते-झगड़ते रहते हैं। अभी यह पुरानी दुनिया बदल रही है। ज्ञान अमृत का कलष माताओं पर रखते हैं। यह है नॉलेज। परन्तु विष की भेंट में अमृत कहा गया है। कहा भी जाता है अमृत छोड़ विष काहे को खाए…..। श्रीमत से ही तुम श्रेष्ठ बनेंगे। परमपिता परमात्मा आकर श्रीमत देते हैं। कृष्ण भी श्रीमत से ऐसा बना है। यह समझने की बातें हैं। इस सारी पुरानी दुनिया को भूल एक बाप को याद करना है। बलिहार भी अभी जाना होता है। इनको ही जीते जी मरना कहा जाता है। भक्ति मार्ग की बातें अलग हैं। वह है भक्ति कल्ट। भक्ति के तो ढेर गुरू हैं। परन्तु सद्गति दाता एक ही निराकार परमपिता परमात्मा है। साकार मनुष्य, मनुष्य की सद्गति कर नहीं सकते। सदा के लिए सुख दे नहीं सकते। सदा सुख देने वाला बाप है। यह पाठशाला है। एम आब्जेक्ट भी बाप बतलाते हैं। कहते हैं तुमको स्वर्ग के सुख का वर्सा मिलेगा। बाकी सब मुक्तिधाम में चले जायेंगे। शान्तिधाम, सुखधाम और यह है दु:खधाम। यह चक्र फिरता रहता है। इसको स्वदर्शन चक्र कहा जाता है। इस ड्रामा के चक्र से कोई छूट नहीं सकता है। बना बनाया अविनाशी पार्ट है हरेक का। बाप तुमको पढ़ाकर मनुष्य से देवता बना रहे हैं। फिर जितना जो पढ़ेंगे, तो कोई राजा बनेंगे, कोई प्रजा बनेंगे। सूर्यवंशी डिनायस्टी है ना। सतयुग में सूर्यवंशी थे तो और कोई नहीं थे। भारत खण्ड ही ऊंच ते ऊंच सचखण्ड था, अब झूठ खण्ड बना है, इसको रौरव नर्क कहा जाता है। पैसे के लिए कितनी मारामारी होती है। वहाँ तो कोई अप्राप्त वस्तु नहीं रहती, जिसकी प्राप्ति के लिए कोई पाप करना पड़े। बाप ही इस भ्रष्टाचारी दुनिया को श्रेष्ठाचारी बना रहे हैं, इन माताओं द्वारा। इन्हों को बाप वन्दे मातरम् कहते हैं। सन्यासी नहीं कहते वन्दे मातरम्। उनका है हद का सन्यास। यह है बेहद का सन्यास। सारी दुनिया का बुद्धि से सन्यास करना है। शान्तिधाम, सुखधाम को याद करना है। दु:खधाम को भूल जाना है। बाप का यह फ़रमान है। बाप आत्माओं को समझाते हैं, तुम इन कानों से सुनते हो। शिवबाबा इन आरगन्स द्वारा तुमको समझाते हैं। वह है ज्ञान सागर। यह कोई साधू, सन्त, महात्मा नहीं है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप पर पूरा बलिहार जाना है। देह का अहंकार छोड़ योग अग्नि से विकर्म विनाश करने हैं।

2) एम ऑब्जेक्ट को बुद्धि में रखकर पढ़ाई करनी है। बने बनाये ड्रामा को बुद्धि में रखकर स्वदर्शन चक्रधारी बनना है।

वरदान:- सन्तुष्टता के सर्टीफिकेट द्वारा भविष्य राज्य-भाग्य का तख्त प्राप्त करने वाले सन्तुष्ट मूर्ति भव
स्लोगन:- सन्तुष्ट रहना है और सर्व को सन्तुष्ट करना है -यह स्लोगन सदा आपके मस्तक रूपी बोर्ड पर लिखा हुआ हो क्योंकि इसी सर्टीफिकेट वाले भविष्य में राज्य-भाग्य का सर्टीफिकेट लेंगे। तो रोज़ अमृतवेले इस स्लोगन को स्मृति में लाओ। जैसे बोर्ड पर स्लोगन लिखते हो ऐसे सदा अपने मस्तक के बोर्ड पर यह स्लोगन दौड़ाओ तो सभी सन्तुष्ट मूर्तियां हो जायेंगे। जो सन्तुष्ट हैं वह सदा प्रसन्न हैं।

स्लोगन:- आपस में स्नेह और सन्तुष्टता सम्पन्न व्यवहार करने वाले ही सफलता मूर्त बनते हैं।

Font Resize