30 july ki murli

TODAY MURLI 30 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 30 July 2020

30/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to become spiritual guides and show those of all other religions the way to the land of peace and the land of happiness. You are the true guides.
Question: Which children receive full power by having remembrance of the Father?
Answer: The children who, together with having remembrance of the Father, are also completely honest with Him and don’t hide anything. Those who remain true to the true Father and don’t commit any sin receive power from their remembrance. Some children continue to make mistakes and then ask for forgiveness. Baba says: There cannot be forgiveness. There is an accurate karmic account for every act.
Song: Our pilgrimage is unique…

Om shanti. You children heard the song. In order to see how children extract points of knowledge, you should find such songs and ask them to extract the real meaning of each song, because these songs also have to be corrected. Baba has explained that there are some very good songs that can help a great deal to bring happiness to someone who is sitting there worrying. These songs are very useful. When you listen to these songs, you quickly become aware. You children know that you are truly the lucky stars of the earth. This pilgrimage of ours is completely different from those of the path of devotion. You are the Pandava Army. On those pilgrimages, they have an army of guides. Each group is led by a separate guide. They keep registers and they ask you which clan you belong to. Each guide would take those of his own clan. There are so many guides who take people there. You are spiritual guides. Your name is the Pandava Army. There is no kingdom of the Pandavas. Guides (pundas) are called Pandavas. The Father is the unlimited Guide. Guides (pundas) take you on a pilgrimage. The worshippers understand that those guides have brought pilgrims. You become guides on the path of knowledge. There is no question of taking anyone anywhere. You can show someone the path even while sitting at home. Then the one to whom you have shown the path would also become a guide. You have to show this path to one another: Manmanabhav! There must be many among you who have been on pilgrimages. Your intellects would know how to go to Badrinath or to Amarnath. Those guides also know that. You are spiritual guides. You mustn’t forget that you are at the most elevated confluence age. You children only have one thing in your intellects: that you are the guides to liberation and liberation-in-life. It isn’t that the guides to heaven are different from those to liberation. You have the faith that you will go to the land of liberation and then go to the new world. You guides are numberwise, according to the efforts you make. There are many types of guide. You are first-class guides; you show everyone the way to purity. Everyone has to remain pure. Everyone’s vision has to change completely. You have promised that you will not remember anyone except the One. “Baba, I will only remember You and You alone. When I belong to You, my boat can go across. In the future, there is only happiness, nothing but happiness. The Father is now taking us into relationships of happiness. Here, there is only sorrow, nothing but sorrow and any happiness here is like the droppings of a crow. You are now studying for the new world. You know that you will first go to the land of liberation and then come here. You will definitely go home. This is the pilgrimage of the power of remembrance. The land of peace has to be remembered; the Father too has to be remembered. You must also be honest with the Father. The Father says: It isn’t that I know what is in each of you; no. Baba is explaining about the acts each of you performs. He inspires you to make effort. However, when you disobey Him or commit a sin, you are asked: Have you committed a sin? Baba has told you that the eyes are very deceitful. You should also tell Baba: Baba, today, my eyes deceived me a great deal. I am cautious while I am here but when I go home, my intellect causes mischief. Baba, I made a big mistake, please forgive me! Baba says: There is no question of forgiveness in this. People in the world do that. Someone would slap another and then ask for forgiveness and everything would be all right again. It doesn’t take long to ask for forgiveness in that way. You can’t continue to perform wrong acts and then say, “I’m sorry!” It doesn’t work in that way. Everything is accumulated. Whatever right or wrong act you perform, they accumulate and the fruit of those right or wrong acts will definitely be received in the next birth. There is no question of forgiveness. Whatever one does, one receives the fruit of that accordingly. Baba repeatedly explains this to you. He says: Lust is the greatest enemy. It causes you sorrow from the time it starts through the middle to the end. Baba is called the Purifier. Those who indulge in vice are called impure. The Father says: When you leave here and go outside, if you are unable to observe the disciplines, you will be unable to claim a high status. Baba receives all the news. While some are here they say that it is very good, but then, when they go outside, they are unable to put it into practice. There is no mention of vice in the golden age. This is the condition of Bharat now. There, they live in big palaces; they have plenty of happiness. Baba asks the children about everything. Baba has to be given all the news. Some even tell lies. Just ask yourself: How much do I lie? One shouldn’t tell Baba any lies at all. The Father is the One who makes you into the truth. There are no lies there; there is no name or trace of that. Here, on the other hand, there is no name or trace of truth; there is a difference. The Father says: This is a forest of thorns, but no one considers himself to be a thorn. The Father says: To use the sword of lust is the greatest thorn. It is because of this that you have become unhappy. Baba has now come to give you a great deal of happiness. You know that, previously, you truly had a great deal of happiness. The golden age is also called the land of happiness. There is no illness etc. there; there are no hospitals or jails etc. There is not even any mention of sorrow in the golden age. In the silver age, there are two degrees less and so there is something that happens. Nevertheless, it is still called heaven. The Father says: You children must now remain in limitless supersensuous joy. Remember the One who is teaching you. God is our Teacher: Everyone remembers his teacher. It is very easy for you children who are living here. There is no bondage here; you are completely free from all types of bondage. When the bhatthi was created in the beginning, they became free from bondage. The only concern is for service and how to increase service. Baba continues to explain a great deal. Some come to Baba and have a lot of enthusiasm for a month or a month and a half and then they become slack. Then, they don’t even go to their centres. Achcha, what should be done then? You can write and ask them why they aren’t coming any more. Tell them: I thought perhaps Maya had attacked you or that you had become trapped in bad company or performed a wrong act and fallen. In spite of everything, they have to be uplifted. You have to make this effort. You have to win their hearts. You can write them a letter. Many are too ashamed and so they lose hope. Even after they leave here and go back home, news comes that they just sit at home. They say that their hearts aren’t in this any more. Some even write a letter and say: Your knowledge is very good, but I can’t remain pure. Therefore, I have left knowledge. I don’t have that much strength. They just write this. Look how vice makes them fall! When they come here, they raise their hands to say that they will become a sun-dynasty Narayan from an ordinary man. This knowledge is for changing from an ordinary human into Lakshmi or Narayan. The Father says: The jaggery knows and the bag of jaggery knows. This one is Baba’s bag. This one asks about everything very clearly. He receives news of everything. Shiv Baba says: I come to teach you. Those who study will become masters. The Father says: Your vision has to be changed so much. There has to be caution at every step. By having this remembrance you can earn multimillions at every step. Many children fail. Even serviceable guides fail. When people go on a pilgrimage, they remain pure. However, some people are so addicted to their habit that, even when they go on a pilgrimage, they take their alcohol etc. with them; they keep it hidden. Even great and important people cannot stop taking it. Of what use would that pilgrimage be? Even those who go into battle drink a lot of alcohol first. They drink alcohol and then crash their aeroplane onto a steamer. They destroy the steamer and kill themselves. You are now receiving the nectar of knowledge. However, remembrance is the main thing. It is through this that you become everhealthy and everwealthy for 21 births. Baba has told you to write: Come and understand how you can become ever wealthy and wealthy for 21 births. You people of Bharat know that you really did have long lifespans in Bharat. No one in the golden age becomes ill. In the golden age, the age of the deities is about 150 years; they are 16 celestial degrees full. Some ask how this is possible. Tell them: The five vices don’t exist there. If these vices were to exist there, how could it be the kingdom of God? You would have seen those statues showing the deities falling on to the path of sin; they are very dirty images. This Baba says: I tell you what I’ve seen. Shiv Baba says: I simply give you knowledge. Shiv Baba tells you the things of knowledge and this one tells you his own experience. There are two here. This one continues to share his experience. Everyone knows about his own life. You know that you have been committing sin for half the cycle. No one commits any sin there. No one here is pure. You children know that the real Bhagawad is now taking place. God sits here and gives knowledge to you children. In fact, there should only be the one Gita. However, what would you write about for Shiv Baba’s biography? You know that none of the books etc. will remain because destruction is just standing ahead. This knowledge for making effort will also end and then the reward will begin. Similarly, whatever is acted out in the drama continues to be wound on the reel and then the reward begins afresh. Each one of all the many souls in the drama has his own part fixed. Those who want to understand these things will do so. This is an unlimited play. Explain to everyone that you can tell them the secrets of the beginning, the middle and the end of this unlimited play. That is the incorporeal world and this is the corporeal world. We will explain to you all the secrets of how this cycle turns. Whomsoever you explain to will enjoy this a great deal. Don’t think that no one listens to you. Many subjects have to be created. You mustn’t have heartfailure in doing service. Just continue to explain. Many customers come to you businessmen. You businessmen say: Come and I will make an unlimited deal with you. There used to be the kingdom of deities in Bharat: Where did it go? Come and we will explain how they took 84 births. God speaks: You don’t know your own births. You can do a lot of service. When you have time, come and we will tell you the history and geography of the world. No one but the Father can explain this. Come and we will explain to you the secrets of the Creator and creation. This is now your last birth. You can earn now for the future. Baba explains to you children the way to do service. Your customers will be very happy when they hear these things. They will bow down to you and thank you. Businessmen can do a lot more service! Businessmen put something aside for charity. You are becoming great and righteous souls. The Father has come and is filling your aprons with the imperishable jewels of knowledge. Baba gives you all types of advice about how to do this and that. Continue to give the message! Don’t become tired! Engage yourself in bringing benefit to many! Don’t become slack! Let your vision be good! Don’t become angry! Interact with everyone with great tact. The Father continues to explain many different methods. It is very easy for shopkeepers. Those are deals and this too is a deal. Those people would say: This is a very good deal. Many will very quickly become customers there. They would say: Such a great person who makes such deals should be given a lot of help. Tell them: This is your last birth in which you can once again change from an ordinary human into a deity. Everyone receives a reward according to how much he does. Check yourself: Was my vision wrong in any way today? It wasn’t pulled towards women, was it? When someone becomes ashamed, he stops coming here. It is not a small thing to become a master of the world! The longer they have been devotees, the happier they will be. Those who have done less devotion would be less happy. This account also has to be understood. The intellect says: I am now to go home and I will then go to the new world. I will change into new clothes and play my part. I will leave this body and then have a golden spoon in the mouth. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t perform any wrong acts because of your vision. Your vision first has to be changed. Remain cautious at every step and accumulate an income of multimillions.
  2. Whenever you have time, make this unlimited deal. Don’t become disheartened in doing service. Give everyone the Father’s message and don’t become tired.
Blessing: May you be an accurate effort-maker who experiences all inner happiness and all powers in the lap of love.
Those who are real effort-makers do not experience hard work or tiredness but always remain intoxicated in love. Because of being surrendered, even with their thoughts, they experience themselves being made to move by BapDada, not with the feet of hard work, but moving in the lap of love. Because of experiencing all attainments in the lap of love, they are not just moving, but are constantly continuing to fly with the experience of happiness, inner joy and all powers.
Slogan: When the foundation of faith is firm you naturally experience your life to be an elevated life.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

30-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हें रूहानी पण्डा बन सभी धर्म वालों को शान्तिधाम और सुखधाम का रास्ता बताना है, तुम हो सच्चे पण्डे”
प्रश्नः- बाप की याद से किन बच्चों को पूरा बल प्राप्त होता है?
उत्तर:- जो याद के साथ-साथ बाप से पूरा-पूरा आनेस्ट रहते हैं, कुछ भी छिपाते नहीं हैं, सच्चे बाप के साथ सच्चे रहते हैं, कोई पाप नहीं करते हैं, उन्हें ही याद से बल प्राप्त होता है। कई बच्चे भूलें करते रहते हैं, फिर कहते क्षमा करो, बाबा कहते क्षमा होती नहीं। हर एक कर्म का हिसाब-किताब है।
गीत:- हमारे तीर्थ न्यारे हैं……..

ओम् शान्ति। बच्चों ने यह गीत सुना, बच्चों के नॉलेज की प्वाइंट्स देखने के लिए कि कैसे अर्थ करते हैं, तो ऐसे-ऐसे गीत निकाल फिर एक-एक से अर्थ कराना चाहिए क्योंकि इन गीतों को भी करेक्ट किया जाता है ना। बाबा ने समझाया है कई ऐसे अच्छे गीत हैं जो कभी कोई फिकरात में बैठा हो तो यह गीत खुशी में लाने में बहुत मदद करेंगे। यह बहुत काम की चीज़ हैं। गीत सुनने से झट स्मृति आ जायेगी। तुम बच्चे जानते हो बरोबर हम इस धरती के लकी स्टार्स हैं। हमारे यह तीर्थ भक्ति मार्ग वालों से बिल्कुल न्यारे हैं। तुम हो पाण्डव सेना। उन तीर्थों पर होती है पण्डों की सेना। हर एक ग्रुप का अलग-अलग पण्डा होता है जो ले जाते हैं। उनके पास चौपड़े होते हैं। पूछते हैं किस कुल के हो? हर एक अपने कुल वालों को ही लेंगे। कितने पण्डे लेकर जाते हैं। तुम भी रूहानी पण्डे हो। तुम्हारा नाम ही है पाण्डव सेना। पाण्डवों की राजधानी नहीं है। पाण्डव पण्डे को कहा जाता है। बाप भी बेहद का पण्डा है। गाइड को पण्डा कहेंगे। पण्डे ले जाते हैं तीर्थो पर। पुजारी लोग जानते हैं यह पण्डे यात्रियों को ले आये हैं। ज्ञान मार्ग में भी तुम पण्डे बनते हो। इसमें कहाँ ले जाने की बात नहीं है। घर बैठे-बैठे भी तुम किसको रास्ता बताते हो फिर जिसको बताते हो वह भी पण्डा बन जाते हैं। एक-दो को रास्ता बताना है – मनमनाभव। तुम्हारे में भी बहुत होंगे जिन्होंने तीर्थ किये होंगे। बुद्धि में आता होगा – बद्रीनाथ, अमरनाथ कैसे जाना होता है। पण्डे लोग भी जानते हैं, तुम हो रूहानी पण्डे। यह तुम भूलो मत कि हम पुरूषोत्तम संगमयुगी हैं। तुम बच्चों को एक ही बात बुद्धि में है कि हम मुक्ति-जीवनमुक्ति के पण्डे हैं। ऐसे नहीं स्वर्ग के कोई अलग पण्डे हैं, मुक्ति के अलग हैं। तुमको यह निश्चय है, हम मुक्तिधाम में जाकर फिर नई दुनिया में आयेंगे। तुम नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार पण्डे हो। पण्डे भी अनेक प्रकार के होते हैं। तुम फर्स्टक्लास पण्डे हो, सबको पवित्रता का ही रास्ता बताते हो। सबको पवित्र रहना है। दृष्टि बदल जाती है। तुमने प्रतिज्ञा की है कि हम सिवाए एक के और कोई को याद नहीं करेंगे। बाबा हम आपको ही याद करेंगे। आपका बनने से हमारा बेड़ा पार होता है। भविष्य में तो सुख ही सुख है। बाप हमको सुख के सम्बन्ध में ले जाते हैं। यहाँ तो दु:ख ही दु:ख है। सुख भी काग विष्टा के समान है। तुम पढ़ते ही हो नई दुनिया के लिए। तुम जानते हो मुक्तिधाम जाकर फिर यहाँ आयेंगे। घर में तो जरूर जायेंगे। यह यात्रा है याद बल की। शान्तिधाम को भी याद करना होता है। बाप को भी याद करना होता है। बाप के साथ ऑनेस्ट भी होना चाहिए। बाप कहते हैं ऐसे नहीं कि मैं तुम्हारे अन्दर को जानता हूँ। नहीं, तुम जो एक्ट करते हो उस पर बाबा समझाते हैं। पुरूषार्थ कराते हैं। बाकी तुम कोई अवज्ञा अथवा पाप करते हो तो यहाँ पूछा जाता है – कोई पाप तो नहीं किया? बाबा ने समझाया है आंखें बड़ा धोखा देती हैं। यह भी बताना चाहिए कि बाबा आज आंखों ने हमको बहुत धोखा दिया। यहाँ तो डर रहता है, घर में जाता हूँ तो मेरी बुद्धि चलायमान होती है। बाबा यह हमारी बड़ी भारी भूल है, क्षमा करो। बाबा कहते क्षमा की इसमें बात नहीं, यह तो दुनिया में मनुष्य करते हैं। कोई ने चमाट मारी, अच्छा माफी मांगी, काम खलास। ऐसे माफी मांगने में देरी थोड़ेही लगती है। बुरे कर्म करते रहो और कह दो आई एम सॉरी – ऐसे थोड़ेही चल सकता है। यह तो सब जमा हो जाता है। कोई भी उल्टा-सुल्टा कर्म करते हो, जमा होता है, जिसका अच्छा-बुरा फल दूसरे जन्म में मिलता जरूर है। क्षमा की बात नहीं। जो जैसा करते ऐसा पाते हैं।

बाबा बार-बार समझाते हैं एक तो कहते हैं काम महाशत्रु है, यह तुमको आदि-मध्य-अन्त दु:ख देते हैं। बाबा को कहते ही हैं पतित-पावन। पतित विकार में जाने वाले को ही कहा जाता है। यहाँ बाप समझाते हैं, यहाँ से फिर बाहर में जाते हो तब इतनी परहेज में नहीं रह सकते तो फिर ऊंच पद भी पा नहीं सकेंगे। बाबा समाचार तो सुनते हैं ना। यहाँ तो बहुत अच्छा-अच्छा करते हैं फिर बाहर में जाने से धारणा नहीं रहती। सतयुग में तो विकार की बातें होती नहीं। अभी तो भारत का यह हाल है। वहाँ तो बड़े-बड़े महलों में रहते हैं, अथाह सुख है। बाबा बच्चों से भी सब इनक्वायरी करते हैं, बाबा को समाचार तो देना है ना। कोई तो झूठ भी बोलते हैं। विचार करना चाहिए – हम कितना झूठ बोलते हैं? इनसे तो बिल्कुल झूठ नहीं बोलना चाहिए। बाप तो ट्रूथ बनाने वाला है। वहाँ झूठ होता नहीं। नाम-निशान नहीं होता। यहाँ फिर सच का नाम-निशान नहीं है। फर्क तो रहता है ना। बाप कहते हैं यह कांटों का जंगल है। परन्तु अपने को कांटा समझते थोड़ेही हैं। बाप कहते हैं काम कटारी चलाना यह सबसे बड़ा कांटा है, इससे ही तुम दु:खी हुए हो। बाबा अब तुम्हें सुख घनेरे देने आया है। तुम जानते हो बरोबर सुख घनेरे थे। सतयुग को कहा ही जाता है सुखधाम। वहाँ बीमारियाँ आदि होती नहीं। हॉस्पिटल जेल आदि होते नहीं। सतयुग में दु:ख का नाम नहीं। त्रेता में दो कला कम हो जाती हैं तो थोड़ा कुछ होता है, फिर भी हेविन कहा जाता है ना। बाप कहते हैं – तुम बच्चों को अथाह अतीन्द्रिय सुख में रहना चाहिए। पढ़ाने वाले को भी याद करना है, भगवान हमारा टीचर है, टीचर को तो सब याद करते हैं। यहाँ रहने वाले बच्चों के लिए तो बहुत सहज है। यहाँ कोई बन्धन तो है नहीं। बिल्कुल ही बन्धनमुक्त हैं। शुरू में भट्ठी बनी तो बन्धनमुक्त हो गये। ओना फुरना सिर्फ सर्विस का ही है। सर्विस कैसे बढ़ायें? बाबा बहुत समझाते रहते हैं। बाबा के पास आते हैं, मास डेढ़ बहुत उमंग रहता है फिर देखो ठण्डे पड़ जाते हैं। आते ही नहीं सेन्टर्स पर। अच्छा, फिर क्या करना चाहिए? लिखकर पूछ सकते हो – क्यों नहीं आते हो? हम समझते हैं शायद माया ने तुम पर वार किया है या किसके संग में फँसे हो या कोई विकर्म किया है, गिर पड़े हो। फिर भी उठाना तो चाहिए ना। पुरूषार्थ करना चाहिए। दिल लेनी होती है। तुम चिट्ठी लिख सकते हो। बहुतों को लज्जा आती है तो फिर फाँ हो जाते हैं। यहाँ से भी होकर जाते हैं, फिर समाचार आता है कि घर में बैठ गया। कहता है मेरी दिल हट गई है। कोई चिट्ठी में भी लिखते हैं – आपका ज्ञान तो बहुत अच्छा है परन्तु हम पवित्र नहीं रह सकते हैं इसलिए छोड़ दिया। मेरे में इतनी ताकत नहीं है। सिर्फ लिख देते हैं। विकार देखो कैसे गिरा देते हैं। यहाँ हाथ भी उठाते हैं कि हम सूर्यवंशी नर से नारायण बनेंगे। यह नॉलेज ही है नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनने की। बाबा कहते हैं गुड़ जाने गुड़ की गोथरी जाने। यह बाबा की बैग (गोथरी) है ना। यह अच्छी तरह से पूछते हैं, इनके पास समाचार भी आते हैं, वह शिवबाबा तो कहते हैं मैं पढ़ाने आता हूँ, जो पढ़ेंगे लिखेंगे होंगे नवाब। बाप कहते हैं दृष्टि को बहुत बदलना है। कदम-कदम पर खबरदारी चाहिए। याद से ही कदम-कदम में पद्म हैं। बहुत बच्चे फेल हो जाते हैं। सर्विसएबुल पण्डे भी फेल हो जाते हैं। तुम जब तक यात्रा पर हो, पवित्र रहते हो। कोई तो यात्रा पर भी ऐसे शौकीन जाते हैं, जो शराब आदि भी अपने साथ वहाँ ले जाते हैं। छिपाकर रख देते हैं। बड़े-बड़े आदमी इसके बिगर रह नहीं सकते। अभी वह तीर्थ क्या काम के रहेंगे। लड़ाई वाले भी बहुत शराब पीते हैं। शराब पी, जाकर एरोप्लेन सहित स्टीमर के ऊपर गिरते हैं। स्टीमर भी खत्म तो खुद भी खत्म।

अभी तुमको मिलता है ज्ञान अमृत। बाकी याद की है मुख्य बात। जिससे ही तुम 21 जन्म के लिए एवर-हेल्दी-एवरवेल्दी बनते हो। बाबा ने कहा था यह भी लिख दो 21 जन्म के लिए एवरहेल्दी, वेल्दी कैसे बन सकते हो आकर समझो। भारतवासी जानते हैं बरोबर भारत में बड़ी आयु थी। स्वर्ग में कभी कोई बीमार नहीं होते। स्वर्ग में देवी-देवताओं की आयु 150 वर्ष की थी। 16 कला सम्पूर्ण थे। कहते हैं यह कैसे हो सकता। बोलो, वहाँ 5 विकार होते ही नहीं। वहाँ भी अगर यह विकार होते तो फिर रामराज्य कैसे होता। देवतायें जब वाम मार्ग में जाते हैं वह भी चित्र तुमने देखे हैं। बड़े गन्दे चित्र होते हैं। यह बाबा कहते हैं हमने जो देखा है वह बतलाते हैं। शिवबाबा कहते हैं मैं तो सिर्फ नॉलेज देता हूँ। शिवबाबा ज्ञान की बातें सुनाते, यह अपने अनुभव की बातें सुनाते रहते। दो हैं ना। यह भी अपना अनुभव बताते रहते हैं। हर एक को अपनी लाइफ का पता है। तुम जानते हो आधाकल्प से पाप करते आये हैं। वहाँ फिर कोई पाप नहीं करेंगे। यहाँ पावन कोई है नहीं।

तुम बच्चे जानते हो अभी रीयल भागवत चल रहा है। भगवान बैठ बच्चों को नॉलेज सुनाते हैं। वास्तव में होनी चाहिए एक ही गीता। बाकी शिवबाबा की बायोग्राफी क्या लिखेंगे। यह भी तुम जानते हो। कोई भी किताब आदि कुछ भी रहेगा नहीं क्योंकि विनाश सामने खड़ा है फिर यह पुरूषार्थ की नॉलेज भी खत्म हो जायेगी। फिर प्रालब्ध शुरू हो जाती। जैसे ड्रामा में जो पार्ट हुआ, रील फिरता जाता फिर नयेसिर प्रालब्ध शुरू होगी। इतनी सब आत्माओं में अपना-अपना ड्रामा का पार्ट नूँधा हुआ है। यह बातें समझने वाले समझें। यह है बेहद का नाटक। तुम कहेंगे हम तुमको बेहद के नाटक के आदि-मध्य-अन्त का राज़ बताते हैं। वह है निराकारी दुनिया, यह है साकारी दुनिया। हम तुमको सारा राज़ समझाते हैं। यह चक्र कैसे फिरता है, जिसको तुम समझायेंगे उनको बड़ा मजा आयेगा। ऐसे मत समझो कोई सुनता नहीं है। प्रजा बहुत बननी है। हार्टफेल नहीं होना है, सर्विस में। तुम समझाते रहो। व्यापारियों के पास ग्राहक तो बहुत आते हैं, आओ हम तुमको बेहद का सौदा देवें। भारत में इन देवताओं का राज्य था फिर कहाँ गया? कैसे 84 जन्म लिए, हम तुमको समझायें। भगवानुवाच, तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। सर्विस बहुत कर सकते हो। जब फुर्सत मिलती है, बोलो हम तुमको विश्व की हिस्ट्री-जॉग्राफी समझाते हैं। सिवाए बाप के कोई समझा न सके। आओ तो तुमको रचता और रचना का राज़ समझायें। अभी तुम्हारा यह अन्तिम जन्म है। भविष्य के लिए अभी कमाई करो। बाबा समझाते हैं ना – बच्चे, तुम ऐसे-ऐसे सर्विस करो। तुम्हारे ग्राहक यह बातें सुनकर बहुत खुश होंगे। तुमको भी माथा टेकेंगे। शुक्रिया मानेंगे। व्यापारी लोग तो और भी जास्ती सर्विस कर सकते हैं। व्यापारी लोग धर्माऊ भी निकालते हैं। तुम तो बड़े धर्मात्मा बनते हो। बाप आकर तुम्हारी झोली भर देते हैं अविनाशी ज्ञान रत्नों से। अनेक प्रकार की राय बाबा देते हैं, ऐसे-ऐसे करो, पैगाम देते रहो, थको मत। बहुतों का कल्याण करने लग जाओ। ठण्डे मत बनो। अपनी दृष्टि को भी ठीक रखो। क्रोध भी नहीं करना है। युक्ति से चलना है। बाप अनेक प्रकार की युक्तियां समझाते रहते हैं। दुकानदारों के लिए तो बहुत सहज है। वह भी सौदा, यह भी सौदा। कहेंगे यह तो बहुत अच्छा सौदा है। झट ग्राहक जम जायेंगे। कहेंगे ऐसे सौदा देने वाले महापुरूष को तो बहुत मदद करनी चाहिए। बोलो यह तुम्हारा अन्तिम जन्म है तुम फिर मनुष्य से देवता बन सकते हो। जो जितना करेंगे उतना पायेंगे। अपनी जांच करो – हमारी दृष्टि ने बुरा काम तो नहीं किया? स्त्री तरफ रग तो नहीं गई? लज्जा आयेगी तो छोड़ देंगे। विश्व का मालिक बनना कम बात है क्या! जितना पुराना भक्त होगा वह बहुत खुश होगा। थोड़ी भक्ति की होगी वह कम खुश होगा। यह भी हिसाब है समझने का। बुद्धि कहती है अब हम जायेंगे घर फिर नई दुनिया में नया कपड़ा पहनकर पार्ट बजायेंगे। यह शरीर छोड़ेंगे और गोल्डन स्पून इन दी माउथ। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) दृष्टि से कोई भी बुरा काम नहीं करना है, अपनी दृष्टि को ही पहले बदलना है। कदम-कदम पर सावधानी रखते हुए पद्मों की कमाई जमा करनी है।

2) जब भी फुर्सत मिलती है तो बेहद का सौदा करना है, सर्विस में दिलशिकस्त नहीं होना है, सबको बाप का पैगाम देना है, थकना नहीं है।

वरदान:- स्नेह की गोद में आन्तरिक सुख व सर्व शक्तियों का अनुभव करने वाले यथार्थ पुरूषार्थी भव
जो यथार्थ पुरूषार्थी हैं वे कभी मेहनत वा थकावट का अनुभव नहीं करते, सदा मोहब्बत में मस्त रहते हैं। वे संकल्प से भी सरेन्डर होने के कारण अनुभव करते कि हमें बापदादा चला रहे हैं, मेहनत के पांव से नहीं लेकिन स्नेह की गोदी में चल रहे हैं, स्नेह की गोद में सर्व प्राप्तियों की अनुभूति होने के कारण वह चलते नहीं लेकिन सदा खुशी में, आन्तरिक सुख में, सर्व शक्तियों के अनुभव में उड़ते रहते हैं।
स्लोगन:- निश्चय रूपी फाउण्डेशन पक्का है तो श्रेष्ठ जीवन का अनुभव स्वत: होता है।

TODAY MURLI 30 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 30 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 July 2019:- Click Here

30/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to become those who belong to the Lord and Master and then princes and princesses. Therefore, burn your sins away with the pilgrimage of remembrance.
Question: By using which one method is all your sorrow removed?
Answer: When you look in the eyes of the Father and your eyes meet His, all your sorrow is removed because, by remembering the Father while considering yourself to be a soul, all your sins are cut away. This is your pilgrimage of remembrance. You renounce all bodily religions and remember the Father. By doing this, you souls become satopradhan and you then become the masters of the land of happiness.

Om shanti. God Shiva speaks: Sit here considering yourselves to be souls. The Father requests this of you. “God Shiva speaks” means that Shiv Baba explains: Children, sit here considering yourselves to be souls because all of you are brothers. All of you are children of the one Father. You have to claim your inheritance from the one Father exactly as you claimed it from the Father 5000 years ago. You were in the kingdom of the original eternal deities. The Father sits here and explains to you how you can become part of the sun dynasty, that is, how you become the masters of the world: Remember Me, your Father. All of you souls are brothers. God, the Highest on High, is only One. The children of that true Lord are those who belong to the Lord and Master. The Father sits here and explains these things. If you connect your intellects in yoga, according to His shrimat, all your sins will be cut away and all your sorrow will be removed. When your eyes meet the Father’s eyes, all your sorrow is removed. Baba also explains to you the meaning of “meeting of the eyes”. Consider yourself to be a soul and remember the Father: this is the pilgrimage of remembrance. This is also called the fire of yoga. All your sins of many births will be burnt away in this fire of yoga. This is the land of sorrow. All are residents of hell. You have committed a lot of sin. This is called the kingdom of Ravan. The golden age is called the kingdom of Rama. You can explain in this way. No matter how big a gathering is sitting there, there should be no hesitation in giving them a lecture. Just continue to say: these are the versions of God. God Shiva speaks: All of us souls are His children; we are brothers. However, we would not say that there were any children of Shri Krishna or that there were so many queens. When Krishna gets married, his name changes. Yes, you would say that Lakshmi and Narayan had children. Radhe and Krishna become Lakshmi and Narayan after they marry and then they have a son. Then, their dynastycontinues. You children now have to remember the Father constantly. Renounce all the religions of the body and constantly remember the Father and all your sins will be cut away. You will become satopradhan and then go to heaven. There is no sorrow in heaven. In hell, there is limitless sorrow; there is no name or trace of happiness. You should explain to people tactfully in this way. God Shiva speaks: O children, you souls are impure at this time, so how can you become pure? You called out to Me: O Purifier, come! Only pure ones exist in the golden age whereas impure ones exist in the iron age. After the iron age, it surely has to become the golden age. There is establishment of the new world and destruction of the old world. It is remembered that establishment took place through Brahma. We Brahma Kumars and Kumaris are adopted children. We are Brahmins, the topknot; there is also the variety-form image. First of all, you definitely have to become Brahmins. Brahma is also a Brahmin. Deities only exist in the golden age. In the golden age, there is constant happiness; there is no mention of sorrow. In the iron age, there is limitless sorrow and all are unhappy. There is no one who does not experience sorrow. This is the kingdom of Ravan. Ravan is the number one enemy of Bharat. Each one has the five vices in him. In the golden age, there are no vices. That is the pure household religion. Mountains of sorrow have now fallen and even more will continue to fall. They continue to manufacture so many bombs etc., but they are not just for storing; they are refining everything. Then, rehearsalwill take place and it will finally happen. There is now very little time left. The drama will end at its own time. First of all, you should have Shiv Baba’s knowledge. Whenever you begin a lecture etc., first of all, you always say, “Salutations to Shiva”, because the praise of Shiv Baba cannot belong to anyone else. Shiv Jayanti is worth diamonds. There are no divine activities etc. of Krishna. In the golden age, little children are satopradhan. Children don’t have any type of mischief etc. in them. They say of Krishna that he ate the butter and that he did this and that. Instead of praising him, they defame him even more. They so happily say that God is omnipresent and that He is in you and also in me. That is very strong defamation. However, tamopradhan people cannot understand these things. So, first of all, you have to give the Father’s introduction. He is the incorporeal Father and His name is Benevolent Shiva, the Bestower of Salvation for All. That incorporeal Father is the Ocean of Happiness and the Ocean of Peace. Why is there so much sorrow now? Because it is the kingdom of Ravan. Ravan is everyone’s enemy. They kill him but he doesn’t die. Here, you don’t have just one type of sorrow; there is limitless sorrow. In the golden age there is limitless happiness. You became the children of the unlimited Father 5000 years ago and you also claimed this inheritance from the Father. Shiv Baba definitely comes, and He surely does something when He comes. He does everything accurately. That is why He is praised. People speak of Shiv Ratri (Night of Shiva), and then there is the night of Krishna. You now have to understand about the Night of Shiva and the night of Krishna. Shiva comes here in the unlimited night. Krishna takes birth at amrit vela, not at night. People celebrate the Night of Shiva, but there is no date or time for that. The birth of Krishna takes place at amrit vela. Amrit vela is considered to be the most auspicious time. Those people celebrate Krishna’s birth at midnight, but that is not the time of dawn. Dawn is around 2.00 to 3.00 am when you are also able to remember God. It isn’t that someone would get up at midnight after indulging in vice and remember God; not at all! Amrit vela is not at midnight. At that time, human beings are impure and dirty. The atmosphere is very bad at that time. No one gets up at 2.30 am. Amrit vela is around 3.00 to 4.00 am. People awaken at that time and perform devotion. They fixed that time themselves, but there isn’t really a fixed time. So, you can find out the time that Krishna was born. You cannot find out the time that Shiva came. He Himself comes and explains this. So, first of all, you have to tell people Shiv Baba’s praise. A song should be played at the beginning, not at the end. Shiv Baba is the sweetest Baba of all and you receive the unlimited inheritance from Him. Shri Krishna was the first prince of the golden age5000 years ago. There was limitless happiness there. Even now, people still continue to praise heaven. When someone dies, they say: So and so has gone to heaven. Ah, but it is still hell now! If it were heaven, people could take rebirth in heaven. You should explain that we have experience of so many years and that that cannot be explained in just 15 minutes; time is needed for this. First of all, tell them that this is a matter of only a second. Give them the introduction of the unlimited Father who is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. He is the Father of all of us souls. All of us BKs are following Shiv Baba’s shrimat. The Father says: All of you are brothers and I am your Father. I came 5000 years ago and this is why people celebrate Shiv Jayanti. Nothing is celebrated in heaven. There is Shiv Jayanti and the memorial of this is celebrated on the path of devotion. This is the Gita episode being played out. The new world is being established through Brahma and the old world is to be destroyed through Shankar. You can see the atmosphere of this old world: this impure world is definitely going to be destroyed. This is why they say: Take us to the pure world. There is limitless sorrow: fighting, death, becoming widowed, committing suicide. The golden age was the kingdom of limitless happiness. You should definitely take this picture of your aim and objective with you. This Lakshmi and Narayan were the masters of the world. We are telling you something of 5000 years ago, of how they attained those births. What deeds did they perform that they became that? The Father alone explains to you the philosophy of action, neutral action and sinful action. In the golden age, actions are neutral. Here, because this is the kingdom of Ravan, actions are sinful and this is why it is called the world of sinful souls. Your exchange is also with sinful souls. While a baby is still in the womb they get it engaged. They have such criminal vision. Here, they are criminaleyed. The golden age is called civileyed. Here, the eyes commit a lot of sin. There, no one commits sin. History and geography repeat from the golden age to the end of the iron age. You should know why they are called the land of happiness and the land of sorrow. Everything depends on being impure and pure. Therefore, the Father says: Lust is the greatest enemy. You become conquerors of the world by conquering that. For half the cycle, the world was pure and there were elevated deities there. Now it is corrupt. On the one hand, they say that this is a corrupt world, and on the other, they continue to call everyone “Shri Shri”. They simply say whatever enters their minds. All of this has to be understood. Death is now standing just ahead. The Father says: Constantly remember Me alone and your sins will be cut away and you will become satopradhan. You will become the masters of the land of happiness. Now there is nothing but sorrow. No matter how many conferences those people have, how many gatherings they have, nothing is to happen through those. They continue to come down the ladder. The Father is carrying out His task through His children. You called out: O Purifier, come! So, I have come at My own time. I come whenever there is extreme irreligiousness. They don’t understand the meaning of this. Since they call out, they themselves must surely be impure. The Father says: Ravan has made you impure and I have now come to make you pure. That was the pure world and it is now the impure world. There are five vices in everyone and there is limitless sorrow. Everywhere there is nothing but peacelessness. When you souls become completely tamopradhan and sinful, I come. I come to uplift even those who defame Me and call Me omnipresent. You invite Me to come to this impure world of Ravan, to come into this impure body. I too need a chariot. I don’t need a pure chariot. In the kingdom of Ravan, all are impure; no one is pure, all are born through vice. This is the vicious world and that is the viceless world. Now, how will you become satopradhan from tamopradhan? I alone am the Purifier. Have yoga with Me! This is the ancient Raj Yoga of Bharat. He will definitely come on the household path. He comes in such a wonderful way! That One is the Father and also the Mother because the mouth of a cow is needed from which nectar can emerge. So, that is the Mother and Father and then, Saraswati has been made head to look after the mothers. She is called Jagadamba. They also speak of Mother Kali. It isn’t that she is ugly like that. They have shown Krishna as dark blue because he sat on the pyre of lust and became ugly. Krishna becomes ugly and then becomes beautiful. Time is required to understand all of these things. They would sit in the intellects of a handful out of multimillions and a few out of that handful because the five vices are in everyone. You can also explain this in a gathering because everyone has a right to say something. You should take that opportunity. In an official gathering, no one would ask you questions etc. in between. If you don’t want to listen to that, then leave quietly; don’t make any noise. Explain in this way: There is now limitless sorrow. Mountains of sorrow are to fall. We know the Father and the creation. You don’t know anyone’s occupation. When and how did the Father make Bharat into Paradise? You don’t know this, so come and we will explain. How do you take 84 births? Take the seven days’ course and we will make you into charitable souls from sinful souls for 21 births. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep in your intellect the deep philosophy of action, neutral action and sinful action that the Father has explained and do not have any exchange with sinful souls.
  2. Follow shrimat, and connect your intellects in yoga to the one Father. Make effort to become satopradhan. In order to make the land of sorrow into the land of happiness, make effort to become pure from impure. You have to change your criminal vision.
Blessing: May you be a constant, unending, great donor who becomes full of all treasures and who constantly does service.
At the confluence age, BapDada has given all the children the blessing: “May you be firm and unending”. Those who keep this blessing in their lives and become unending, great donors, that is, constantly easy servers, claim number one. From the copper age onwards, even devotee souls become donors, but they cannot become donors of the unending treasures. They become donors of perishable treasures and things, whereas you children of the Bestower who are full of all treasures cannot stay without donating for even a second.
Slogan: Internal honesty and cleanliness within is revealed when there is easiness in your nature.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 July 2019

To Read Murli 29 July 2019 :- Click Here
30-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें साहेबजादे सो शहजादे बनना है, इसलिए याद की यात्रा से अपने विकर्मों को भस्म करोˮ
प्रश्नः- किस एक विधि से तुम्हारे सब दु:ख दूर हो जाते हैं?
उत्तर:- जब तुम अपनी नज़र बाप की नज़र से मिलाते हो तो नज़र मिलने से तुम्हारे सब दु:ख दूर हो जाते हैं क्योंकि अपने को आत्मा समझकर बाप को याद करने से सब पाप कट जाते हैं। यही है तुम्हारी याद की यात्रा। तुम देह के सब धर्म छोड़ बाप को याद करते हो, जिससे आत्मा सतोप्रधान बन जाती है, तुम सुखधाम के मालिक बन जाते हो।

ओम् शान्ति। शिव भगवानुवाच, अपने को आत्मा समझकर बैठो। बाप फ़रमाते हैं शिव भगवानुवाच माना ही शिवबाबा समझाते हैं बच्चे अपने को आत्मा समझकर बैठो क्योंकि तुम सब ब्रदर्स हो। एक ही बाप के बच्चे हो। एक ही बाप से वर्सा लेना है, हूबहू जैसे 5 हज़ार वर्ष पहले बाप से वर्सा लिया था। आदि सनातन देवी-देवताओं की राजधानी में थे। बाप बैठ समझाते हैं तुम सूर्यवंशी अर्थात् विश्व के मालिक कैसे बन सकते हो। मुझ अपने बाप को याद करो। तुम सब आत्मायें भाई-भाई हो। ऊंच ते ऊंच भगवान् एक ही है। उस सच्चे साहेब के बच्चे साहेबजादे हैं। यह बाप बैठ समझाते हैं, उनकी श्रीमत पर बुद्धि का योग लगायेंगे तो तुम्हारे पाप सब कट जायेंगे। सब दु:ख दूर हो जायेंगे। बाप से जब हमारी आंखें मिलती हैं तो सब दु:ख दूर हो जाते हैं। आंखे मिलाने का भी अर्थ समझाते हैं। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो, यह है याद की यात्रा। इसको योग अग्नि भी कहा जाता है। इस योग अग्नि से तुम्हारे जो जन्म-जन्मान्तर के पाप हैं, वह भस्म हो जायेंगे। यह है ही दु:खधाम। सभी नर्कवासी हैं। तुमने बहुत पाप किये हैं, इसको कहा जाता है रावण राज्य। सतयुग को कहा जाता है रामराज्य। तुम ऐसे समझा सकते हो। भल कितनी भी बड़ी सभा बैठी हो, भाषण करने में हर्जा थोड़ेही है। तुम तो भगवानुवाच कहते रहते हो। शिव भगवानुवाच – हम सब आत्मायें उनकी सन्तान हैं, ब्रदर्स हैं। बाकी श्रीकृष्ण की कोई सन्तान थे, ऐसे नहीं कहेंगे। न इतनी रानियां ही थी। कृष्ण का तो जब स्वयंवर होता है, नाम ही बदल जाता है। हाँ, ऐसे कहेंगे लक्ष्मी-नारायण के बच्चे थे। राधे-कृष्ण ही स्वयंवर के बाद लक्ष्मी-नारायण बनते हैं तब एक बच्चा होता है। फिर उनकी डिनायस्टी चलती है। तुम बच्चों को अब मामेकम् याद करना है। देह के सब धर्म छोड़ो, बाप को याद करो तो तुम्हारे सब पाप कट जायेंगे। सतोप्रधान बन स्वर्ग में जायेंगे। स्वर्ग में कोई दु:ख होता नहीं। नर्क में अथाह दु:ख है। सुख का नाम-निशान नहीं। ऐसे युक्ति से बतलाना चाहिए। शिव भगवानुवाच – हे बच्चों, इस समय तुम आत्माएं पतित हो, अब पावन कैसे बनो? मुझे बुलाया ही है – हे पतित-पावन आओ। पावन होते ही हैं सतयुग में, पतित होते हैं कलियुग में। कलियुग के बाद फिर सतयुग जरूर बनना है। नई दुनिया की स्थापना, पुरानी दुनिया का विनाश होता है। गायन भी है ब्रह्मा द्वारा स्थापना। हम ब्रह्माकुमार-कुमारियां एडाप्टेड चिल्ड्रेन हैं। हम हैं ब्राह्मण चोटी। विराट रूप भी है ना। पहले ब्राह्मण जरूर बनना पड़े। ब्रह्मा भी ब्राह्मण है। देवतायें हैं ही सतयुग में। सतयुग में सदा सुख है। दु:ख का नाम नहीं। कलियुग में अपरमअपार दु:ख हैं, सब दु:खी हैं। ऐसा कोई नहीं होगा जिसको दु:ख न हो। यह है रावण राज्य। यह रावण भारत का नम्बरवन दुश्मन है। हर एक में 5 विकार हैं। सतयुग में कोई विकार नहीं होते। वह है पवित्र गृहस्थ धर्म। अभी तो दु:ख के पहाड़ गिरे हुए हैं, और भी गिरने हैं। यह इतने बॉम्ब्स आदि बनाते रहते हैं, रखने लिए थोड़ेही हैं। बहुत रिफाइन कर रहे हैं फिर रिहर्सल होगी, फिर फाइनल होगा। अभी समय बहुत थोड़ा है, ड्रामा तो अपने समय पर पूरा होगा ना।

पहले-पहले शिव बाबा का ज्ञान होना चाहिए। कुछ भी भाषण आदि शुरू करते हो तो हमेशा पहले-पहले कहना है – शिवाए नम:… क्योंकि शिवबाबा की जो महिमा है वह और कोई की नहीं हो सकती। शिव जयन्ती ही हीरे तुल्य है। कृष्ण के चरित्र आदि कुछ हैं नहीं। सतयुग में तो छोटे बच्चे भी सतोप्रधान ही होते हैं। बच्चों में कोई चंचलता आदि नहीं होती। कृष्ण के लिए दिखाते हैं – मक्खन खाते थे, यह करते थे, यह तो महिमा के बदले और ही ग्लानि करते हैं। कितना खुशी में आकर कहते ईश्वर सर्वव्यापी है। तेरे में भी है, मेरे में भी है। यह बड़ी भारी ग्लानि है परन्तु तमोप्रधान मनुष्य इन बातों को समझ नहीं सकते। तो पहले-पहले बाप का परिचय देना चाहिए – वह निराकार बाप है, जिनका नाम ही है कल्याणकारी शिव, सर्व का सद्गति दाता। वह निराकार बाप सुख का सागर, शान्ति का सागर है। अब इतना दु:ख क्यों हुआ है? क्योंकि रावण राज्य है। रावण है सबका दुश्मन, उसको मारते भी हैं, परन्तु मरता नहीं। यहाँ कोई एक दु:ख नहीं है, अपरमअपार दु:ख हैं। सतयुग में है अपरमअपार सुख। 5 हज़ार वर्ष पहले बेहद के बाप के बच्चे बने थे और यह वर्सा बाप से लिया था। शिवबाबा आते हैं जरूर, कुछ तो आकर करते हैं ना। एक्यूरेट करते हैं तब तो महिमा गाई जाती है। शिव रात्रि भी कहते हैं फिर है कृष्ण की रात्रि। अब शिवरात्रि और कृष्ण की रात्रि को भी समझना चाहिए। शिव तो आते ही हैं बेहद की रात में। कृष्ण का जन्म अमृतवेले होता है, न कि रात्रि को। शिव की रात्रि मनाते हैं परन्तु उनकी कोई तिथि तारीख नहीं। कृष्ण का जन्म होता है अमृतवेले। अमृतवेला सबसे शुभ मुहूर्त्त माना जाता है। वो लोग कृष्ण का जन्म 12 बजे मनाते हैं परन्तु वह प्रभात तो हुई नहीं। प्रभात सवेरे 2-3 बजे को कहा जाता है जबकि सिमरण भी कर सके। ऐसे थोड़ेही 12 बजे विकार से उठकर कोई भगवान का नाम भी लेते होंगे, बिल्कुल नहीं। अमृतवेला 12 बजे को नहीं कहा जाता। उस समय तो मनुष्य पतित गंदे होते हैं। वायुमण्डल ही सारा खराब होता है। अढ़ाई बजे थोड़ेही कोई उठता है। 3-4 बजे का समय अमृतवेला है। उस समय उठकर मनुष्य भक्ति करते हैं, यह टाइम तो मनुष्यों ने बनाये हैं, परन्तु वह कोई समय है नहीं। तो तुम कृष्ण की वेला निकाल सकते हो। शिव की वेला कुछ भी नहीं निकाल सकते। यह तो खुद ही आकर समझाते हैं। तो पहले-पहले महिमा बतानी है शिवबाबा की। गीत पिछाड़ी में नहीं, पहले बजाना चाहिए। शिवबाबा सबसे मीठा बाबा है, उनसे बेहद का वर्सा मिलता है। आज से 5 हज़ार वर्ष पहले यह श्रीकृष्ण सतयुग का पहला प्रिन्स था। वहाँ अपरमअपार सुख थे। अभी भी स्वर्ग का गायन करते रहते हैं। कोई मरता है तो कहेंगे फलाना स्वर्ग गया। अरे, अभी तो नर्क है। स्वर्ग हो तो स्वर्ग में पुनर्जन्म ले सकें।

समझाना चाहिए हमारे पास तो इतने वर्षो का अनुभव है, वह सिर्फ 15 मिनट में तो नहीं समझा सकते, इसमें तो टाइम चाहिए। पहले-पहले तो एक सेकण्ड की बात सुनाते हैं, बेहद का बाप जो दु:ख हर्ता सुख कर्ता है, उनका परिचय देते हैं। वह हम सब आत्माओं का बाप है। हम बी.के. सब शिवबाबा की श्रीमत पर चलते हैं। बाप कहते हैं तुम सब भाई-भाई हो, मैं तुम्हारा बाप हूँ। मैं 5 हज़ार वर्ष पहले आया था, तब तो शिव जयन्ती मनाते हो। स्वर्ग में कुछ मनाया नहीं जाता। शिवजयन्ती होती है, जिसका फिर भक्ति मार्ग में यादगार मनाया जाता है। यह गीता एपीसोड चल रहा है। नई दुनिया की स्थापना ब्रह्मा द्वारा, पुरानी दुनिया का विनाश शंकर द्वारा। अब इस पुरानी दुनिया का वायुमण्डल तो तुम देख रहे हो, इस पतित दुनिया का विनाश जरूर होना है इसलिए कहते हैं पावन दुनिया में ले चलो। अथाह दु:ख हैं – लड़ाई, मौत, विधवापना, जीवघात करना……..। सतयुग में तो अपार सुखों का राज्य था। यह एम ऑबजेक्ट का चित्र तो जरूर वहाँ ले जाना चाहिए। यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे। 5 हज़ार वर्ष की बात सुनाते हैं – इन्होंने कैसे यह जन्म पाया? कौन से कर्म किये जो यह बनें? कर्म-अकर्म-विकर्म की गति बाप ही समझाते हैं। सतयुग में कर्म, अकर्म हो जाते हैं। यहाँ तो रावण राज्य होने कारण कर्म, विकर्म बन जाते हैं इसलिए इसको पाप आत्माओं की दुनिया कहा जाता है। लेन-देन भी पाप आत्माओं से ही है। पेट में ही बच्चा होता है तो सगाई कर देते हैं। कितनी क्रिमिनल दृष्टि है। यहाँ है ही क्रिमिनल आइज्ड। सतयुग को कहा जाता है सिविलाइज्ड। यहाँ आंखें बहुत पाप करती हैं। वहाँ कोई पाप नहीं करते। सतयुग से लेकर कलियुग अन्त तक हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती है। यह तो जानना चाहिए ना। दु:खधाम सुखधाम क्यों कहा जाता है? सारा मदार है पतित और पावन होने पर इसलिए बाप कहते हैं काम महाशत्रु है, इसको जीतने से तुम जगतजीत बनेंगे। आधाकल्प पवित्र दुनिया थी, जिसमें श्रेष्ठ देवता थे। अब तो भ्रष्टाचारी हैं। एक तरफ कहते भी हैं यह भ्रष्टाचारी दुनिया है फिर सबको श्री श्री कहते रहते, जो आता है वह बोल देते हैं। यह सब समझना है। अब तो मौत सामने खड़ा है। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो पाप कट जायेंगे। तुम सतोप्रधान बन जायेंगे। सुखधाम के मालिक बनेंगे। अभी तो है ही दु:ख। कितना भी वे लोग कान्फ्रेन्स करें, संगठन करें परन्तु इनसे कुछ होना नहीं है। सीढ़ी नीचे उतरते ही जाते हैं। बाप अपना कार्य अपने बच्चों द्वारा कर रहे हैं। तुमने पुकारा है पतित-पावन आओ, तो मैं अपने समय पर आया हुआ हूँ। यदा यदाहि धर्मस्य…….. इसका अर्थ भी नहीं जानते। बुलाते हैं तो जरूर खुद पतित हैं। बाप कहते हैं रावण ने तुमको पतित बनाया है, अब मैं पावन बनाने आया हूँ। वह पावन दुनिया थी। अब पतित दुनिया है। 5 विकार सबमें हैं, अपरमअपार दु:ख हैं। सब तरफ अशान्ति ही अशान्ति है। जब तुम बिल्कुल तमोप्रधान, पाप आत्मा बन जाते हो तब मैं आता हूँ। जो मुझे सर्वव्यापी कह मेरा अपकार करते हैं, ऐसे-ऐसे का भी मैं उपकार करने आता हूँ। मुझे तुम निमंत्रण देते हो कि इस पतित रावण की दुनिया में आओ। पतित शरीर में आओ। मुझे भी रथ तो चाहिए ना। पावन रथ तो चाहिए नहीं। रावण राज्य में हैं ही पतित। पावन कोई है नहीं। सब विकार से ही पैदा होते हैं। यह विशश वर्ल्ड है, वह है वाइसलेस वर्ल्ड। अब तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान कैसे बनेंगे? पतित-पावन तो मैं ही हूँ। मेरे साथ योग लगाओ, भारत का प्राचीन राजयोग यह है। आयेंगे भी जरूर गृहस्थ मार्ग में। कैसे वण्डरफुल रीति आते हैं, यह पिता भी है तो माँ भी है क्योंकि गऊ मुख चाहिए, जिससे अमृत निकले। तो यह मात-पिता है, फिर माताओं को सम्भालने के लिए सरस्वती को हेड रखा है, उनको कहा जाता है जगत अम्बा। काली माता कहते हैं। ऐसे काले कोई शरीर होते हैं क्या! कृष्ण को काला कर दिया है क्योंकि काम चिता पर चढ़ काले बन गये हैं। कृष्ण ही सांवरा फिर गोरा बनता है। इन सब बातों को समझने लिए भी टाइम चाहिए। कोटों में कोई, कोई में भी कोई की बुद्धि में बैठता होगा क्योंकि सभी में 5 विकार प्रवेश हैं। तुम यह बात सभा में भी समझा सकते हो क्योंकि कोई को भी बोलने का हक है, ऐसा मौका लेना चाहिए। ऑफीशियल सभा में कोई बीच में प्रश्न आदि नहीं करते हैं। नहीं सुनना है तो शान्ति से चले जाओ, आवाज़ न करो। ऐसे-ऐसे बैठ समझाओ। अभी तो अपार दु:ख हैं। दु:ख के पहाड़ गिरने हैं। हम बाप को, रचना को जानते हैं। तुम तो किसका भी आक्यूपेशन नहीं जानते हो, बाप ने भारत को पैराडाइज़ कब और कैसे बनाया था – यह तुम नहीं जानते हो, आओ तो समझायें। 84 जन्म कैसे लेते हैं? 7 दिन का कोर्स लो तो तुमको 21 जन्म के लिये पाप आत्मा से पुण्य आत्मा बना देंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1. कर्म-अकर्म-विकर्म की गुह्य गति जो बाप ने समझाई है, वह बुद्धि में रख पाप आत्माओं से अब लेन-देन नहीं करनी है।

2. श्रीमत पर अपना बुद्धियोग एक बाप से लगाना है। सतोप्रधान बनने का पुरूषार्थ करना है। दु:खधाम को सुखधाम बनाने के लिए पतित से पावन बनने का पुरूषार्थ करना है। क्रिमिनल दृष्टि को बदलना है।

वरदान:- सर्व खजानों से सम्पन्न बन निरन्तर सेवा करने वाले अखुट, अखण्ड महादानी भव
बापदादा ने संगमयुग पर सभी बच्चों को “अटल-अखण्डˮ का वरदान दिया है। जो इस वरदान को जीवन में धारण कर अखण्ड महादानी अर्थात् निरन्तर सहज सेवाधारी बनते हैं वह नम्बरवन बन जाते हैं। द्वापर से भक्त आत्मायें भी दानी बनती हैं लेकिन अखुट खजानों के दानी नहीं बन सकती। विनाशी खजाने या वस्तु के दानी बनते हैं, लेकिन आप दाता के बच्चे जो सर्व खजानों से सम्पन्न हो वह एक सेकण्ड भी दान देने के बिना रह नहीं सकते।
स्लोगन:- अन्दर की सच्चाई सफाई प्रत्यक्ष तब होती है जब स्वभाव में सरलता हो।

TODAY MURLI 30 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 July 2018 :- Click Here

30/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, promise that you will not sleep peacefully until the golden-aged self-sovereignty is established, that you will become pure and enable others to become pure.
Question: Which death in the drama is the system of the confluence age?
Answer: Very good children who make effort to become part of the rosary of victory are amazed by the knowledge. They listen to it, they speak about it and then run away, that is, they die. It is as though this type of death has become a system of the confluence age. When you don’t follow shrimat, Maya defeats you. After belonging to the Father, if you let go of His hand, it means you have died. Your fortune is then crossed out.
Song: I have come to Your doorstep having taken an oath. 

Om shanti. Sweetest children who have died alive, who have sacrificed themselves while alive, heard this song. Not all of them have sacrificed themselves. They all die alive, numberwise, according to the effort they make. When someone goes into the lap of someone else, that is, when someone is adopted, he leaves one family and becomes a member of another family. You children know that you have died to the devilish family and have now become part of God’s family. God has come and adopted you. No one on the path of ignorance is adopted by God. They are adopted by religious gurus. There are Vallbhacharis who hand over the children to Shri Krishna in the Shri Krishna Temple. However, those images are non-living. Therefore, it is the brahmin priests who takes them in their laps to make them into Vaishnavs. There are many who adopt children. You children know that they are adopted in the name of those who have been and gone. Some are adopted by Christ and others are adopted by Abraham. Only you children know when they existed in the past and when they will come again. You have now died alive. You have to stay in remembrance of the one Father. Physical children are adopted and when their father dies the children remain. Here, you are adopted by such a Father that He takes you from the land of death to the land of immortality, that is, from degradation into salvation. There is only the one Bestower of Salvation for human beings. It isn’t that only you receive salvation. Everyone definitely receives salvation but, according to the drama, some receive satopradhan salvation, some sato, some rajo, and others receive tamo salvation. Although they come at the time of the tamo stage, they don’t experience sorrow as soon as they come. They definitely have to experience happiness first. At the end, everyone experiences sorrow. The Father says: I alone am the Bestower of Salvation, the Purifier. When souls come down, they first experience happiness and then sorrow. You too first come into the satopradhan stage, numberwise, according to the efforts you make, and you then go through the sato, rajo and tamo stages. You too receive salvation, numberwise. Eight beads are considered to be the main ones. All of you are Draupadis. You now belong to the Father and so you must never leave the Father. However, if you don’t remember Him according to shrimat, Maya will make you let go of His hand. Some came and were adopted and continued to follow this path in the beginning. Very good sweet children who were placed in the third and fourth number of the rosary of victory, also became those who were amazed and then ran away. This is a custom or system of the confluence age. There continues to be those who are amazed by the knowledge as they listen to it, who speak about it and then die. It would be said that they were meant to die in that way in the drama. Having belonged to the Father, if you then let go of His hand it means you have died. Although they are in this world, they have left this place while alive and gone into the devilish world. There has to be some reason, even though you would say that it is the drama. However, because of not following shrimat, they are defeated by Maya; their fortune is crossed out. After belonging to God, there is a war with Maya. There wasn’t a war between the deities and devils. Maya is a devil and gains victory. Achcha. Children have written asking what to do on the festival of Raksha Bandhan. Preparations are made for all the festivals. In advance of the festival of Raksha Bandhan, you go and tie a rakhi on people. You should have the full significance of this in your intellects. In earlier days, brahmin priests would tie the rakhis. Now they have a system where a sister ties a rakhi on her brother’s wrist. Originally, those brahmins used to tie the rakhi because the brahmin caste is remembered as the highest and the purest. In fact, brahmins are even higher than sannyasis, but, according to the drama, sannyasis have become higher at this time. Earlier, brahmins used to tie rakhis, and they would then untie the rakhis at Janamashtami. Just as they have said that Draupadi left her hair loose, rishis too always keep their locks (hair) undone. A married woman would always have her hair tied. Draupadi said she would keep her hair loose until they received their kingdom back, that she would not tie her hair. The meaning of that has now been explained to you children. Until we claim our self-sovereignty, we will not sleep peacefully. It is said that it is a sin to rest. Internally, you have the enthusiasm that there can not be happiness until you claim your self-sovereignty. You have to receive happiness in the future and, for that, you have to make effort now. You now know that Raksha Bandhan means you make a promise to remain pure. Rakhi means it is a matter of making a promise. When did these festivals start? Why did they start? Who emerged to give the advice of Raksha Bandhan? One person gives this advice and then his name is glorified. Therefore, this is a symbol of purity. A sister is a kumari. The kumaris tie them. We also go and tie them on householders. Kumars are kumars. A sister ties a rakhi on her brother, whether he is a kumar or married. It would be very difficult for a married person to remain pure. God says: Become pure in this final birth, and yet they don’t become pure. A sister should tie a rakhi on a kumar brother and ask him to promise: I will never drink poison. Those who are already indulging in vice will not let go of vice. They don’t obey God’s orders. Therefore, this system of kumars and kumaris continues. You now understand that this festival belongs to the confluence age. In the golden age, all are pure. There is no need to tie rakhis there. It isn’t that this system has continued from the golden age. All the festivals generally refer to the confluence age. The festival of Lakshmi and Narayan is also celebrated at this time, but it has no importance. They celebrate the birth of Krishna but, first of all, tell us who made Krishna like that? The helpless people don’t know this. This should also be written clearly. All the festivals are of this time. Such things don’t exist in the golden age. They begin after some time in the copper age. The festival of Deepmala that people celebrate here is not celebrated in the same way in the golden age. The celebration here has a different meaning. One has to understand the importance of the time of that festival. It has been explained to you children that that festival is of this time when there is the birth of Shiva. After the birth of Shiva, there is the Rakhi festival. You make a promise to remain pure, that you will remain pure in this final birth in order to make Bharat, the world, pure. This Raksha Bandhan has great significance for you children. You make a promise that you will never become impure. You are now becoming pure and so only you pure kumaris have a right to tie rakhis. You have to tie rakhis on the brothers for them to remain always pure, and you also have to make the householders promise that they will remain pure. They do say: Purifier, come! So, you are inspiring them to do what has been remembered: to become pure from impure. The Father comes and makes you make this promise. After Shiva Jayanti, there is Raksha Bandhan. Holi is also connected with knowledge. Holi and Dhuriya (day after Holi when coloured water is sprayed) are both of this time. Holi means to become pure and Dhuriya means to imbibe knowledge. Those people then make so many things of stones, clay and cowdung etc. and do all sorts of things. Therefore, the Purifier Father, Himself, comes and explains to you children. Among those who die alive, there are real children and stepchildren. The Father would definitely have the account of those who are real children. A father would surely know all about the business activities and property etc. of his children. Real children are those who have total love for the Father. Real children are numberwise and stepchildren are also numberwise; some are worthy and others are unworthy. The birth of Shiva is at the confluence age. The confluence age has to be given a time. Just as they have a leap month, in the same way there is also the leapcentury of 100 years. The leap century is a very high century. It is said: The 20th Century. Here, too, this century, when the Father comes, is called the centuryof the confluence. It takes time for upheaval to take place. Deepmala is also of this time. You children know that, after the birth of Shiva, there is the matter of purity. There has been quarrelling because of purity from the beginning. Together with purity, Holi and Dhuriya are connected with knowledge and yoga. You also need to remember the Father very well. The Dhuriya of knowledge also continues. There will continue to be the rain of knowledge on you. The quarrelling is because of purity. Everyone asks: Who has come and said that you have to remain pure while living at home? Sannyasis themselves leave their homes and families. There is the story of King Gopichanda. He was asked: Why did you renounce the fortune of your kingdom? He replied: In order to meet God. People sing very good devotional songs based on this. Here, you have to live at home with your family and remain pure. All the conflict is because of purity. Raksha Bandhan is the memorial of the festival to become pure and make others pure. Look, here, even little children have visions. What devotion would little children have performed? Baba gave instant visions to everyone, and so they thought there was magic here. This is called the divine activities of Shiv Baba. They would disappear while just sitting somewhere. This too is said to be the drama. They would just look at one another and go into trance. All of these are the divine activities of the Supreme Father, the Supreme Soul, not of Krishna. They have mentioned Krishna’s name and caused a lot of defamation. Look what they have written in the Bhagawad, that Shri Krishna, the prince of the golden age, stole the clothes of the gopies and did this and that. Such activities should not be remembered. People of the world think that Krishna really did do all of that. Then they say that a soul entered the body of Krishna and related knowledge. However, that is not possible; he was a well-known prince. They also show the chariot. They show Krishna in the chariot. Would someone run a school sitting in a horse carriage? This is the school of Raja Yoga. There is such a vast difference between the battlefield they have shown and this war of yours! This is the war to conquer Maya. You children have to explain Raksha Bandhan. Raksha Bandhan means the Supreme Father, the Supreme Soul, Himself, has come to make impure ones pure. You, who are remembered, are Brahma Kumaris. A kumari is one who uplifts 21 generations. This is an aspect of the confluence age. These festivals do not continue in the golden age. After Raksha Bandhan, there is the birth of Krishna because the first birth in the golden age is that of Shri Krishna. There is his kingdom. He promises at this time to go into the clan of Shri Krishna. This is Raja Yoga. You are becoming Narayan from an ordinary man. There is no biography of Lakshmi and Narayan. The Father has explained: The biography of Radhe and Krishna is the biography of Lakshmi and Narayan. People celebrate the birthday of Krishna. OK, so what about the birth of Narayan? There must be a reason. They have shown Rama of the silver age as more elevated than Krishna. One (Krishna) is 16 celestial degrees and the other one is 14 degrees. They have mixed up the whole play. All the importance is of this time. Don’t think that Deepmala begins in the golden age. The golden age is the pure world. All souls are awakened. All the festivals refer to this time. You now know the biography of everyone. Shiv Baba Himself comes and tells you children to become pure. You souls have become dirty. Sannyasis say that souls are immune to the effect of action. This is why many people say that there is nothing wrong with eating eggs, fish, etc. They all have their own customs and systems. Earlier, human beings were sacrificed to Kali. Neither Shiva nor Shankar would be called ugly. Yes, the two forms of Brahma and Vishnu become ugly and beautiful. The Father sits here and explains all of this. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have total love for the Father and become real children. Give your full news to the Father. Never become unworthy.
  2. Keep the accurate meaning of Raksha Bandhan in your intellect and definitely become pure. Never be defeated by Maya. With the power of purity, promise to claim your self-sovereignty.
Blessing: May you be a highest being following the highest code of conduct and maintain spirituality and an entertaining nature.
Some children joke and laugh a lot and consider that to be an entertaining nature. Generally, the virtue of being entertaining is considered to be good, but this is good when it is according to the persons, time, gathering, place and the atmosphere. If, out of all of these things, even one thing is not right, then that form of being entertaining would be considered to be wasteful; the certificate you receive would be that you make people laugh a lot, but that you also speak too much. So, a laughing and joking nature considered to be good is that in which there is spirituality and also benefit for that soul. Words should be within the boundary and you would then be said to be a highest being following the highest code of conduct.
Slogan: In order to remain constantly healthy, increase the power of the soul.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 July 2018

To Read Murli 29 July 2018 :- Click Here
30-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – प्रतिज्ञा करो – जब तक सतयुगी स्वराज्य स्थापन नहीं हुआ है तब तक हम सुख की नींद नहीं सोयेंगे, पवित्र बनकर सबको पवित्र बनायेंगे”
प्रश्नः- ड्रामा में कौन-सी मौत होना भी जैसे संगमयुग की रस्म है?
उत्तर:- विजय माला में आने का पुरुषार्थ करने वाले अच्छे-अच्छे बच्चे भी आश्चर्यवत् सुनन्ती, कथन्ती फिर भागन्ती हो जाते अर्थात् मर जाते हैं। ऐसी मौत भी संगमयुग की जैसे रस्म बन गई है। श्रीमत पर न चलने से माया हरा देती है। बाप का बनकर हाथ छोड़ा तो गोया मर गया। तकदीर पर लकीर लग जाती है।
गीत:- दर पर आये हैं कसम ले के…….. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे जीते जी मरने वाले बच्चों ने यह गीत सुना जो जीते जी कुर्बान गये हैं। सब तो कुर्बान नहीं गये हैं। नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार जीते जी मरते हैं। जब कोई गोद में लेते हैं या एडाप्ट करते हैं तो एक परिवार को छोड़कर दूसरे परिवार का बनते हैं। बच्चे जानते हैं हम आसुरी परिवार से मरकर अभी ईश्वरीय परिवार के बने हैं। ईश्वर ने आकर गोद में लिया है। अज्ञान काल में कोई ईश्वर की गोद नहीं लेते हैं। धर्म के गुरू की गोद ले लेते हैं। जैसे वल्लभाचारी श्रीकृष्ण के मन्दिर में बच्चे को श्रीकृष्ण की गोद में देते हैं। परन्तु वह तो है जड़ चित्र इसलिए फिर ब्राह्मण पुजारी गोद में ले लेते हैं – वैष्णव बनाने के लिए। ऐसे गोद में तो बहुत लेते हैं। बच्चे जानते हैं – बरोबर उनकी गोद लेते हैं जो होकर गये हैं। कोई क्राइस्ट की गोद लेते, कोई इब्राहम की गोद लेते। कब होकर गये हैं, वह फिर कब आयेंगे – यह सिर्फ तुम बच्चे जानते हो। अभी तुम जीते जी मरे हो। तुमको एक बाप की याद में रहना है। लौकिक बाप के बच्चे गोद में आते हैं, बाप मर जाता है, बाकी बच्चे रह जाते हैं। यहाँ तुम ऐसे बाप की गोद में आये हो जो बाप तुमको इस मृत्युलोक से अमरलोक में अथवा दुर्गति से सद्गति में ले जाने वाला है। मनुष्य मात्र का सद्गति दाता एक ही है। ऐसे नहीं कि सद्गति सिर्फ तुमको मिलती है। सद्गति तो सबको जरूर मिलती है परन्तु ड्रामा अनुसार किसको सतोप्रधान, किसको सतो, किसको रजो, तमो सद्गति मिलती है। भल तमो में आते हैं तो भी पहले आने से दु:ख नहीं भोगते। पहले सुख जरूर भोगना है। अन्त में तो सभी दु:ख भोगते हैं।

बाप कहते हैं कि सद्गति दाता पतित-पावन मैं एक ही हूँ। पहले-पहले जो आत्मायें आती हैं वह सुख भोगती हैं फिर दु:ख में आती हैं। तुम भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार पहले सतोप्रधान फिर सतो, रजो, तमो में आते हो। तुम भी नम्बरवार सद्गति को पाते हो। मुख्य 8 दाने गिने जाते हैं ना। अब तुम सब द्रोपदियां हो। बाप के बने हो तो बाप को कभी छोड़ना नहीं है। परन्तु श्रीमत पर याद नहीं करते हैं तो फिर माया हाथ छुड़ा देती है। गोद तो ली, शुरू में चलते आये। अच्छे-अच्छे बड़े मीठे बच्चे जिनको विजय माला में तीन-चार नम्बर में रखते थे वह भी आश्चर्यवत् भागन्ती हो गये। यह भी इस संगमयुग की रस्म-रिवाज है। आश्चर्यवत् सुनन्ती, कथन्ती, मरन्ती – यह होता रहेगा। कहेंगे ड्रामा में इनका यह मौत था। बाप का बनकर फिर हाथ छोड़ा तो गोया मर गया। है तो भल इस दुनिया में परन्तु जीते जी यहाँ से निकलकर आसुरी दुनिया में चला गया। कोई कारण तो बनता है ना। भल कहेंगे ड्रामा! परन्तु श्रीमत पर न चलने से माया से हार खा लेते हैं। तकदीर पर लकीर लग जाती है। ईश्वर का बनने से फिर होती है माया से लड़ाई। बाकी देवताओं और असुरों की लड़ाई नहीं होती है। माया असुर है जो जीत पा लेती है।

अच्छा, अब बच्चे लिखते हैं कि राखी बन्धन के त्योहार पर क्या करें? हर त्योहार पर तैयारियाँ तो करते हैं ना। रक्षाबन्धन पर्व के उपलक्ष्य में इनएडवांस जाकर राखी बांधते हैं। इसका पूरा रहस्य भी बुद्धि में होना चाहिए। आगे तो ब्राह्मण-ब्राह्मणियां राखी बांधते थे। अब यह रिवाज़ निकला है कि बहन भाई को राखी बांधती है। असल में ब्राह्मण राखी बांधते थे क्योंकि ब्राह्मण जाति ऊंच, स्वच्छ गाई हुई है। ब्राह्मण असुल सन्यासियों से भी ऊंच है। परन्तु ड्रामा अनुसार इस समय सन्यासी ऊंच बन गये हैं। आगे ब्राह्मण राखी बांधते थे। फिर जन्माष्टमी पर वह राखी खोलते थे। जैसे द्रोपदी के लिए कहते हैं कि जटायें खोल दी थी। ऋषि लोगों की जटायें भी हमेशा खुली रहती हैं। पतिव्रता स्त्री होती है तो चोटी बांधती है। द्रोपदी ने खोल दिया था कि जब तक हम अपना राज्य नहीं लेंगे तब तक चोटी नहीं करुँगी। अब तुम बच्चों को सिर्फ अर्थ समझाया जाता है। जब तक हम स्वराज्य नहीं लेंगे तब तक सुख से सोयेंगे नहीं। गाते हैं ना – आराम हराम है। अन्दर में यह जोश रहता है कि जब तक स्वराज्य नहीं लिया है तब तक सुख कहाँ? सुख तो भविष्य में पाना है, इसके लिए पुरुषार्थ अब करना है। अब तुम जानते हो रक्षा बन्धन अर्थात् पवित्र रहने के लिए हम प्रतिज्ञा करते हैं। राखी अर्थात् प्रतिज्ञा की बात है। अब यह त्योहार कब से शुरू हुए? क्यों शुरू हुए? कौन निकला जिसने राखी बंधन की राय निकाली? कोई एक राय निकालते हैं फिर उसका नाम बाला हो जाता है। तो यह पवित्रता की निशानी है। बहन तो हुई कुमारी। कुमारियां बांधती हैं। तुम गृहस्थी को भी जाकर बांधती हो। कुमार तो हैं ही कुमार। बहन भाई को बांधती हैं, कुमार हो वा शादी किया हुआ हो। शादी किया हुआ फिर पवित्र रहे यह तो बड़ा मुश्किल है। भगवान् कहते हैं कि यह अन्तिम जन्म पवित्र बनो तो भी नहीं बनते हैं। तो बहन द्वारा कुमार भाई को राखी बांधनी चाहिए कि प्रतिज्ञा करो – हम कभी विष नहीं पियेंगे। जो हैं ही विकारी वह तो कभी विकार को छोड़ेंगे नहीं। भगवान् का फ़रमान भी नहीं मानते हैं। तो यह कुमार-कुमारियों की रस्म चली आती है। अब तुम समझते हो कि यह त्योहार भी संगमयुग का है। सतयुग में तो हैं ही सब पवित्र। वहाँ राखी बांधने की दरकार ही नहीं। ऐसे नहीं कि यह सतयुग से लेकर रिवाज चला आया है। उत्सव बहुत करके संगमयुग के हैं। लक्ष्मी-नारायण का उत्सव भी अभी मनाते हैं परन्तु उनका महत्व नहीं। कृष्ण जयन्ती मनाते हैं परन्तु पहले तो कृष्ण को ऐसा किसने बनाया – वह बताओ? बिचारों को मालूम नहीं। यह भी क्लीयर कर लिखना है। उत्सव सब हैं इस समय के। सतयुग में ऐसी बात होती नहीं। यह तो द्वापर में कुछ समय बाद फिर शुरू होते हैं। दीपमाला का उत्सव भी सतयुग में नहीं मनाया जाता, जैसे यहाँ मनाते हैं। यहाँ मनाने का अर्थ दूसरा है। उत्सव का महत्व कब का है – यह समझने की बात है। बच्चों को समझाया जाता है – यह उत्सव इस समय के हैं जबकि शिव जयन्ती होती है। शिव जयन्ती के बाद फिर होती है राखी। पवित्र बनने की प्रतिज्ञा करते हैं कि यह अन्तिम जन्म हम पवित्र बनेंगे – भारत को अथवा विश्व को पवित्र बनाने के लिए।

तुम बच्चों के लिये इस रक्षाबन्धन का बड़ा महत्व है। प्रतिज्ञा की जाती है – हम कभी पतित नहीं बनेंगे। अब तुम पावन बनते हो तो सिर्फ तुम पावन कुमारियों को ही हक है राखी बांधने का। भाइयों को सदैव पवित्र रहने के लिए राखी बांधनी है और इन गृहस्थियों से प्रतिज्ञा करानी है पवित्र रहने की। कहते हैं ना – पतित-पावन आओ। तो जो गायन है वो ही प्रतिज्ञा कराते हैं – पतित से पावन बनो। बाप आकर प्रतिज्ञा कराते हैं। शिव जयन्ती के बाद है रक्षाबन्धन। होली भी ज्ञान की है। धुरिया और होली – दोनों इस समय के हैं। होली अर्थात् पवित्र बनो, धुरिया माना ज्ञान धारण करो। वह फिर पत्थर ठिक्कर, गोबर आदि-आदि बनाकर क्या-क्या करते हैं! तो पतित-पावन बाप ही आकर बच्चों को समझाते हैं।

जो जीते जी मरते हैं उनमें भी मातेले और सौतेले होते हैं। मातेले का हिसाब-किताब जरूर बाप के पास होगा। बाप जरूर बच्चे की सब कारोबार, मिलकियत आदि को जानते होंगे। मातेले वह हैं जिनका बाप से पूरा लॅव रहता है। मातेले भी नम्बरवार होते हैं। सौतेले भी नम्बरवार हैं। कोई कपूत, कोई सपूत तो होते ही हैं। शिव जयन्ती भी संगमयुग पर होती है। संगम को भी टाइम देना चाहिए। जैसे लीप मास कहते हैं फिर लीप सेन्चुरी 100 वर्ष की। यह बहुत ऊंची है लीप सदी। 20वीं सदी कहते हैं ना। इनमें भी यह सदी, जिसमें बाप आते हैं, इसको संगम सेन्चुरी कहेंगे। उथल-पुथल होने में टाइम लगता है। दीपमाला भी यहाँ की है। तुम बच्चे जानते हो शिव जयन्ती के बाद फिर है पवित्रता की बात। शुरू से लेकर पवित्रता पर झगड़ा चला आया है। पवित्रता के साथ ज्ञान और योग की होली-धुरिया साथ-साथ है। बाप की याद भी अच्छी रीति चाहिए। ज्ञान का धुरिया भी चलता रहता है। ज्ञान बरसात तुम पर होती ही रहेगी। पवित्रता पर ही झगड़ा चलता है। सब कहते हैं कि यह कौन आया है जो कहते हैं घर-गृहस्थ में रहते पवित्र रहकर दिखाओ। सन्यासी तो खुद घरबार छोड़ जाते हैं। गोपीचन्द राजा की भी कहानी है। उनसे पूछा गया – तुमने राज्य-भाग्य क्यों छोड़ा? बोला – प्रभू-मिलन के लिए छोड़ा है। इस पर गीत भी अच्छे-अच्छे गाते हैं। यहाँ तो गृहस्थ व्यवहार में रहकर पवित्र रहना है। पवित्रता पर ही सारी खिटपिट होती है।

अब रक्षाबन्धन है पवित्र बनने-बनाने का यादगार पर्व। यहाँ देखो, छोटे-छोटे बच्चों को भी साक्षात्कार होते हैं। अब छोटे बच्चे ने क्या भक्ति की? बाबा ने झट सबको साक्षात्कार करा दिया, तो समझते थे जादू है। इसको कहा जाता है – शिवबाबा के चरित्र। बैठे-बैठे गुम हो जाते थे – यह भी ड्रामा ही कहेंगे। एक-दो को देखा और ध्यान में चले गये। यह सब चरित्र परमपिता परमात्मा के हैं, कृष्ण के नहीं। कृष्ण का नाम ले सारी बदनामी की है। भागवत में क्या-क्या लिख दिया है! श्रीकृष्ण सतयुग का प्रिन्स उसने चीर हरे……. यह किया……. ऐसे चरित्र तो गाये नहीं जाते। दुनिया वाले समझते हैं बरोबर कृष्ण ने यह सब किया होगा। फिर कहते हैं कि कृष्ण के शरीर में आत्मा आई होगी, जिसने ज्ञान सुनाया होगा। परन्तु ऐसे तो नहीं हो सकता। वह तो प्रिन्स नामीग्रामी था फिर रथ दिखाते हैं। रथ में कृष्ण दिखाते हैं। घोड़े गाड़ी पर बैठ पाठशाला चलाई जाती है क्या? यह है राजयोग की पाठशाला। कहाँ उन्होंने युद्ध का मैदान दिखाया है और कहाँ तुम्हारी यह युद्ध! यह है माया पर जीत पाने की युद्ध। तो तुम बच्चों को रक्षाबन्धन पर समझाना है। रक्षाबन्धन अर्थात् पतितों को पावन बनाने के लिए स्वयं परमपिता परमात्मा आये हैं। तुम ब्रह्माकुमारियां हो जो गाई हुई हो। कुमारी वह जो 21 कुल का उद्धार करे। संगम की ही बात है। फिर यह उत्सव सतयुग आदि में नहीं चलता। राखी बंधन के बाद फिर है कृष्ण जयन्ती क्योंकि सतयुग में पहला नम्बर जन्म है श्रीकृष्ण का। उनकी भी राजधानी है। वह इस समय प्रतिज्ञा करते हैं – श्रीकृष्ण के कुल में जाने के लिए। यह राजयोग है। तुम नर से नारायण बनते हो। लक्ष्मी-नारायण की जीवन कहानी है नहीं। बाप ने समझाया है राधे-कृष्ण सो लक्ष्मी-नारायण की जीवन कहानी। कृष्ण का जन्म दिन मनाते हैं। अच्छा, नारायण जयन्ती कहाँ? कारण होगा ना। राम को कृष्ण से ऊपर त्रेता में दिखाया है। वह 16 कला, वह 14 कला। सारा खेल ही मुँझा दिया है। महत्व सारा यहाँ का है। ऐसे भी मत समझो कि दीपमाला कोई सतयुग से शुरू होती है। सतयुग में तो है ही पवित्र दुनिया। सभी की आत्मायें जगी हुई है। उत्सव सब इस समय के हैं। अभी तुम सबकी बायोग्राफी को जानते हो। शिवबाबा स्वयं आकर के बच्चों को कहते हैं कि अब पवित्र बनो। तुम आत्मायें मैली हो गई हो। सन्यासी तो कहते हैं आत्मा निर्लेप है इसलिए बहुत लोग कह देते हैं अण्डा मछली आदि खाने में कोई हर्जा नहीं है। सबकी अपनी-अपनी रस्म-रिवाज है ना। आगे काली पर मनुष्यों की बलि चढ़ाते थे। शिव को तो काला नहीं कहेंगे, न शंकर को कहेंगे। हाँ, ब्रह्मा और विष्णु के दो रूप गोरे से काले बनते हैं। यह सब बाप बैठ समझाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से पूरा-पूरा लव रख मातेला बनना है। अपना पूरा समाचार बाप को देना है। कभी भी कपूत नहीं बनना है।

2) रक्षा बन्धन का यथार्थ रहस्य बुद्धि में रख पवित्र जरूर बनना है। माया से कभी हार नहीं खानी है। पवित्रता के बल से स्वराज्य लेने की प्रतिज्ञा करनी है।

वरदान:- रूहानियत के साथ रमणीकता में आने वाले मर्यादा पुरूषोत्तम भव
कई बच्चे हंसी-मजाक बहुत करते हैं और उसे ही रमणीकता समझते हैं। वैसे रमणीकता का गुण अच्छा माना जाता है लेकिन व्यक्ति, समय, संगठन, स्थान, वायुमण्डल के प्रमाण रमणीकता अच्छी लगती है। यदि इन सब बातों में से एक बात भी ठीक नहीं तो रमणीकता भी व्यर्थ की लाइन में गिनी जायेगी और सर्टीफिकेट मिलेगा कि यह हंसाते बहुत अच्छा हैं लेकिन बोलते बहुत हैं इसलिए हंसीमजाक अच्छा वह है जिसमें रूहानियत हो और उस आत्मा का फ़ायदा हो, सीमा के अन्दर बोल हों, तब कहेंगे मर्यादा पुरुषोत्तम।
स्लोगन:- सदा स्वस्थ रहना है तो आत्मिक शक्ति को बढ़ाओ।
Font Resize