30 january ki murli

TODAY MURLI 30 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

30/01/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your pilgrimage of remembrance is very incognito. You children are now on the pilgrimage to the land of liberation.
Question: What effort must you make in order to become a resident of the subtle region from a resident of the corporeal world?
Answer: In order to become an angel of the subtle region, sacrifice your every bone in spiritual service. You cannot become an angel without sacrificing your bones because angels have no flesh or bones. You have to use all your bones for this unlimited service just as Dathichi Rishi did, for only then will you become subtle from corporeal.
Song: Have patience, oh mind! Your days of happiness are about to come!

Om shanti. You children received a signal from this song to have patience. You children know that you are making effort on the basis of shrimat. You also know that you are on this incognito pilgrimage of remembrance. Other pilgrimages have to end at their own time. The main thing about this pilgrimage is that no one, apart from you, knows about it. You definitely have to go on this pilgrimage and you also need to have the Guide. You have been called the Pandava Army. You are now on a pilgrimage. It is not a question of a physical war. Everything here is incognito. This pilgrimage too is very incognito. In the scriptures it says: The Father speaks: Remember Me and you will attain Me! This too is a pilgrimage, is it not? The Father tells you the essence of all the scriptures. He puts all of this into action ina practical way. We souls have to go on a pilgrimage to our land of nirvana. If you think about it, you can understand it. This is the true pilgrimage to the land of liberation. Everyone wants to go to the land of liberation. Someone has to show them the land of liberation in order for them to go on this pilgrimage, but the Father only comes at His own time by Himself. No one knows what time that is. When the Father comes and explains, you children have the faith that this really is the true pilgrimage that has been remembered. God taught us this pilgrimage: Manmanabhav! Madhyajibhav! These terms are very useful for you. The only mistake made was about who spoke them. He says: Forget your body and all bodily relations. This one (Brahma Baba) also has a body. It is someone else, who doesn’t have a body of His own, who also explains to this one. That Father is without an image (vichitra); He does not have an image of His own. Everyone else has an image (chitra). The whole world is a gallery (a place where those with an image reside). This human form is made up of one without an image and the image itself; that is, the non living body and the soul. That Father is without an image. He explains that He has to take the support of this image (body). It is written in the scriptures that God spoke this when the Mahabharat War took place. He taught Raj Yoga and the kingdom was definitely established. There is no kingdom now. God taught Raj Yoga for the new world because destruction was just ahead. It is explained that it happened like that when heaven was being established. That kingdom of Lakshmi and Narayan was established. It is now in your intellects that there was then the golden age and that it is now the iron age. The Father is now explaining the same things. No one else can say that he has come from the supreme abode to take you back. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, can say this through Brahma. He cannot say this through anyone else. In the subtle region, there are just Brahma, Vishnu and Shankar. It is also explained about Brahma that that one is the subtle Brahma and that this one is the corporeal Brahma. You are now becoming angels. Angels don’t exist in the corporeal world. Angels don’t have bodies of flesh and bones. Here, you sacrifice all your bones, etc. in this spiritual service and you then become angels. At the moment you have bones. It is written that someone even gave his bones in service, which means that you finish your bones. From residents of the corporeal world, you have to become residents of the subtle region. We give our bones here and then become subtle. You have to sacrifice everything for this service. While staying in remembrance, we will become angels. “Death to the prey and joy for the hunter,” has also been remembered. Angels are called hunters. You change from humans into angels. You cannot be called deities. Here, you have bodies. The explanation of the subtle region is given at this time. You stay in yoga and become angels. At the end you will become angels. You will have visions of everything and also have happiness. Human beings will all become prey to Death. Those among you who are mahavirs will remain unshakeable. So many other things will also continue to happen. The scenes of destruction have to take place. Arjuna had a vision of destruction. This isn’t a question of one Arjuna. You children are given visions of destruction and establishment. First of all, Baba had a vision of destruction. At that time he too had no knowledge at all. He saw that the world was being destroyed. Then he had a vision of the four-armed image (Vishnu). He began to understand that it was good because, after destruction, we were to become the masters of the world. Therefore, he became happy. The world doesn’t know that destruction is good. They make so many arrangements for peace, but destruction ultimately has to take place. They remember the Purifier and ask Him to come. So, the Father would definitely come. He would come and establish the pure world in which we will rule. This is good, is it not? Why do they remember the Purifier? It is because they are unhappy. Deities exist in the pure world; they cannot set foot in the impure world. Therefore, the impure world definitely has to be destroyed. It is also remembered that a massive destruction took place. What happened after that? That was how the one religion was established, was it not? You study Raj Yoga here and then destruction takes place. Who will then remain in Bharat? Those who study Raj Yoga and give knowledge will remain. Everyone else has to be destroyed. There is no need to be afraid about this. People call out for the Purifier to come. Therefore, they should be happy when He does come. The Father says: Don’t indulge in vice. Conquer these vices. Or, give them as a donation and the eclipse will be removed. The eclipse over Bharat definitely has to be removed. You have to become beautiful from ugly. Pure deities used to live in the golden age. They must surely have become that here. You know that we are becoming viceless by following shrimat. God speaks: This is incognito. By following shrimat you attain the sovereignty. The Father says: You have to change from ordinary human beings into Narayan. You can receive the kingdom in a second. In the beginning, some daughters would go into trance and stay in heaven for four or five days. Shiv Baba used to come and give you children visions of heaven. The deities used to come with so much pride and respect. Therefore, this touches the hearts of you children, because it really is the Father who comes in an incognito way to explain to us. He comes in the body of Brahma. The body of Brahma must also exist here. Establishment takes place through Prajapita Brahma. Baba has explained that you should ask anyone who comes here: Who have you come to? To the Brahma Kumaris. Achcha, have you heard the name of Brahma before? Prajapita Brahma does exist, does he not? All of us now belong to him. We definitely belonged to him before too. Establishment takes place through Brahma. Therefore, Brahmins are needed. To whom does the Father explain through Brahma? He doesn’t explain to shudras. These Brahmins are mouth-born creations. Shiv Baba has made us belong to Him through Brahma. There are so many Brahma Kumars and Kumaris. There are so many centres. Brahma Kumaris teach at all of them. Here, we receive the Grandfather’s inheritance. God speaks: I teach you Raj Yoga. Because He is incorporeal, He takes the support of this one’s body and speaks knowledge to us. All are children of Prajapita Brahma. We are the Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. Shiv Baba is Dada (Grandfather). He has adopted us. You know that we are studying from Dada through Brahma. This Lakshmi and Narayan are both the masters of heaven. Only the highest-on-high incorporeal One is God. You children must imbibe this very well. First of all, explain that you have two fathers on the path of devotion. In heaven you have one father. Why would you remember Him after you have received the sovereignty from the parlokik Father? There is no sorrow there that you would have to remember Him. It is sung: O Remover of Sorrow! Bestower of Happiness! That refers to this time. Whatever becomes the past is remembered later. The praise is of just the One. That one Father comes and purifies the impure. Human beings don’t understand this. They sit and write stories of the past. You now understand that the Father really did teach you Raj Yoga through which you received that sovereignty. You have been around the cycle of 84 and are now studying once again. You will then rule for 21 births. You will become deities, like them. You became that in the previous cycle too. You understand that you have been around the whole cycle of 84 births. You are now going to go to the golden and silver ages again. This is why the Father asks: How many times have we met before? This is something practical, is it not? When new ones hear this, they can understand that there definitely is a cycle of 84 births. The cycle is only a full cycle for those who come at the beginning. Everything has to be calculated with the intellect. Baba, I have met You many times in this building, while wearing this costume and I will continue to meet You. You have continued to become pure from impure and impure from pure. It is impossible for anything to remain constantly new; everything definitely becomes old. Everything has to go through the stages of sato, rajo and tamo. You children now understand that the new world is coming. That is called heaven. This is hell. That is the pure world. Many people call out: O Purifier, come and purify us! They call out because their sorrow is increasing, but they don’t understand that they were worthy of worship and that they then became worshippers. We became worshippers in the copper age. Innumerable religions continued to come. We truly continued to become pure from impure and impure from pure. The play is based on Bharat. You children now have awareness and you now celebrate the birthday of Shiva. No one else even knows Shiva. We know Him. He truly does teach us Raj Yoga. The establishment of heaven is taking place through Brahma. Those who study this yoga and carry out establishment will definitely claim their fortune of the kingdom. We say: We really do study this Raj Yoga from the Father every cycle. Baba has explained that the cycle of 84 births is now coming to an end. We will then have to go around the new cycle. You have to understand the cycle. You can explain these things even if you don’t have these pictures. These things are very simple. Bharat truly was heaven and it is now hell. It is just that those people believe that the iron age is still in its infancy. You say that this is the end of the iron age. The cycle is now coming to an end. The Father says: I have come to make the impure world pure. You know that we have to go to the pure world. You also understand the lands of liberation and liberation-in-life, the land of peace, the land of happiness and the land of sorrow. However, if it is not in your fortune, the thought “Why should I not go to the land of happiness?” does not come. That land of peace truly is the home of us souls. Because souls don’t have organs there, they don’t say anything. Everyone receives peace there. In the golden age, there is just the one religion. This world drama is eternal and imperishable; it continues to turn. Souls are never destroyed. You all have to stay in the land of peace for a short time. This is something that has to be understood. The iron age is the land of sorrow. There are all the innumerable religions and there is so much upheaval. When it is the land of total sorrow, it is then that the Father comes. After the land of sorrow, it is a land of full happiness. We enter the land of happiness from the land of peace. That then becomes the land of sorrow. In the golden age they are completely viceless whereas here they are completely vicious. This is very easy to explain. Courage is needed. You can go anywhere and explain to them. It is written that Hanuman would go to spiritual gatherings and sit at the back among the shoes. Those who are brave warriors will go anywhere and listen with diplomacy to what others say. You can change your dress and go anywhere to benefit them. Baba is also benefiting you in an incognito way. Whenever you receive an invitation from a temple or anywhere, you should go there and explain to them. Day by day, you are becoming cleverer. You have to give everyone the Father’s introduction. You have to try this out. It has been remembered that the sannyasis and the kings came at the end. King Janak received liberation-in-life in a second. He then became Anu-Janak (one who will become the future Janak) in the silver age. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to see the final scenes of destruction, make your stage fearless and unshakeable like that of Mahavir. Stay on the pilgrimage of remembrance in an incognito way.
  2. In order to become an angel, a resident of the subtle region, sacrifice your every bone in unlimited service, like Dadichi Rishi did.
Blessing: May you practise solitude and introspection fill yourself with experience and thereby become a conqueror of Maya.
In order to be powerful as well as knowledge-full, that is, an image of experience, be one who stays in solitude and introspection. The reason for fluctuation is a lack of experience. Therefore, do not just be one who understands and explains to others or simply an image of churning but stay in solitude and experience every point and you will saved from any type of deception, sorrow or conflict. When you have experienced the first lesson of whose child you are, what your attainments are, you will easily become a conqueror of Maya.
Slogan: Those who remain double light while fulfilling their responsibilities are the jewels who are close to the Father.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

30-01-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हारी याद की यात्रा बिल्कुल ही गुप्त है, तुम बच्चे अभी मुक्तिधाम में जाने की यात्रा कर रहे हो”
प्रश्नः- स्थूलवतन वासी से सूक्ष्मवतन वासी फरिश्ता बनने का पुरुषार्थ क्या है?
उत्तर:- सूक्ष्मवतनवासी फरिश्ता बनना है तो रूहानी सर्विस में हड्डी-हड्डी स्वाहा करो। बिना हड्डी स्वाहा किये फरिश्ता नहीं बन सकते क्योंकि फरिश्ते बिगर हड्डी मास के होते हैं। इस बेहद की सेवा में दधीचि ऋषि की तरह हड्डी-हड्डी लगानी है, तभी व्यक्त से अव्यक्त बनेंगे।
गीत:- धीरज धर मनुवा……..

ओम् शान्ति। बच्चों को इस गीत से इशारा मिला कि धीरज धरो। बच्चे जानते हैं हम श्रीमत पर पुरुषार्थ कर रहे हैं और जानते हैं कि हम इस गुप्त योग की यात्रा पर हैं। वह यात्रा अपने समय पर पूरी होनी है। मुख्य है ही यह यात्रा, जिसको तुम्हारे सिवाए और कोई भी नहीं जानते हैं। यात्रा पर जाना है जरूर और ले जाने वाला पण्डा भी चाहिए। इसका नाम ही रखा हुआ है पाण्डव सेना। अब यात्रा पर हैं। स्थूल लड़ाई की कोई बात नहीं है। हर एक बात गुप्त है। यात्रा भी बड़ी गुप्त है। शास्त्रों में भी है – बाप कहते हैं मुझे याद करो तो मेरे पास आकर पहुचेंगे। यह यात्रा तो हुई ना। बाप सब शास्त्रों का सार बताते हैं। प्रैक्टिकल में एक्ट में ले आते हैं। हम आत्माओं को यात्रा पर जाना है अपने निर्वाण-धाम। विचार करो तो समझ सकते हैं। यह है मुक्तिधाम की सच्ची यात्रा। सब चाहते हैं हम मुक्तिधाम में जायें। यह यात्रा करने के लिए कोई मुक्तिधाम का रास्ता बताये। परन्तु बाप तो अपने समय पर आपेही आते हैं, जिस समय को कोई नहीं जानते हैं। बाप आकर समझाते हैं तो बच्चों को निश्चय होता है। बरोबर यह सच्ची यात्रा है जो गाई हुई है। भगवान ने यह यात्रा सिखाई थी। मनमनाभव, मध्याजी भव। यह अक्षर भी तुम्हारे काम के बहुत हैं। सिर्फ किसने कहा? यह भूल कर दी है। कहते हैं देह सहित देह के सम्बन्धों को भूल जाओ। इनको (ब्रह्मा बाबा को) भी देह है। इनको भी समझाने वाला दूसरा है, जिसको अपनी देह नहीं है वह बाप है विचित्र, उनको कोई चित्र नहीं है, और तो सबके चित्र हैं। सारी दुनिया चित्रशाला है। विचित्र और चित्र अर्थात् जीव और आत्मा का यह मनुष्य स्वरूप बना हुआ है। तो वह बाप है विचित्र। समझाते हैं मुझे इस चित्र का आधार लेना पड़ता है। बरोबर शास्त्रों में है भगवान ने कहा था जबकि महाभारत लड़ाई भी लगी थी। राजयोग सिखाते थे, जरूर राजाई स्थापन हुई थी। अभी तो राजाई है नहीं। राजयोग भगवान ने सिखाया था, नई दुनिया के लिए क्योंकि विनाश सामने खड़ा था। समझाया जाता है ऐसा हुआ था जबकि स्वर्ग की स्थापना हुई थी। वह लक्ष्मी-नारायण का राज्य स्थापन हुआ था। अभी तुम्हारी बुद्धि में है – सतयुग था, अभी कलियुग है। फिर बाप वही बातें समझाते हैं। ऐसा तो कोई कह न सके कि मैं परमधाम से आया हूँ तुमको वापिस ले जाने। परमपिता परमात्मा ही कह सकते हैं ब्रह्मा द्वारा, और किसके द्वारा भी कह नहीं सकते। सूक्ष्मवतन में हैं ही ब्रह्मा-विष्णु-शंकर। ब्रह्मा के लिए भी समझाया है कि वह है अव्यक्त ब्रह्मा और यह है व्यक्त। तुम अभी फरिश्ता बनते हो। फरिश्ते स्थूल वतन में नहीं होते। फरिश्तों को हड्डी मास नहीं होता है। यहाँ इस रूहानी सर्विस में हड्डी आदि सब खलास कर देते हैं, फिर फरिश्ते बन जाते हैं। अभी तो हड्डी है ना। यह भी लिखा हुआ है – अपनी हड्डियां भी सर्विस में दे दी। गोया अपनी हड्डियां खलास करते हैं। स्थूलवतन से सूक्ष्मवतनवासी बनना है। यहाँ हम हड्डी देकर सूक्ष्म बन जाते हैं। इस सर्विस में सब स्वाहा करना है। याद में रहते-रहते हम फरिश्ते बन जायेंगे। यह भी गाया हुआ है – मिरूआ मौत मलूका शिकार, मलूक फरिश्ते को कहा जाता है। तुम मनुष्य से फरिश्ते बनते हो। तुमको देवता नहीं कह सकते। यहाँ तो तुमको शरीर है ना। सूक्ष्मवतन का वर्णन अभी होता है। योग में रह फिर फरिश्ते बन जाते हैं। पिछाड़ी में तुम फरिश्ते बन जायेंगे। तुमको सब साक्षात्कार होगा और खुशी होगी। मनुष्य तो सब काल का शिकार हो जायेंगे। तुम्हारे में जो महावीर हैं वह तो अडोल रहेंगे। बाकी क्या-क्या होता रहेगा! विनाश की सीन तो होनी है ना। अर्जुन को विनाश का साक्षात्कार हुआ। एक अर्जुन की बात नहीं है। तुम बच्चों को विनाश और स्थापना का साक्षात्कार होता है। पहले-पहले बाबा को भी विनाश का साक्षात्कार हुआ। उस समय ज्ञान तो कुछ था नहीं। देखा सृष्टि का विनाश हो रहा है। फिर चतुर्भुज का साक्षात्कार हुआ। समझने लगे यह तो अच्छा है। विनाश के बाद हम विश्व के मालिक बनते हैं, तो खुशी आ गई। अभी यह दुनिया नहीं जानती कि विनाश तो अच्छा है ना। पीस के लिए प्रयत्न करते हैं परन्तु आखरीन विनाश तो होना है। याद करते हैं पतित-पावन आओ, तो बाप आयेंगे जरूर आकर पावन दुनिया स्थापन करेंगे, जिसमें हम राजाई करेंगे। यह तो अच्छा है ना। पतित-पावन को क्यों याद करते हैं? क्योंकि दु:ख है। पावन दुनिया में देवतायें हैं, पतित दुनिया में तो देवताओं के पैर आ नहीं सकते। तो जरूर पतित दुनिया का विनाश होना चाहिए। गाया हुआ भी है महाविनाश हुआ। उसके बाद क्या होता है? एक धर्म की स्थापना सो तो ऐसे होगी ना। यहाँ से राजयोग सीखेंगे। विनाश होगा बाकी भारत में कौन बचेगा? जो राजयोग सीखते हैं, नॉलेज देते हैं वही बचेंगे। विनाश तो सबका होना है, इसमें डरने की बात नहीं। पतित-पावन को बुलाते हैं जबकि वह आते हैं तो खुशी होनी चाहिए ना। बाप कहते हैं विकारों में मत जाओ। इन विकारों पर जीत पाओ वा दान दे दो तो ग्रहण छूटे। भारत का ग्रहण छूटता जरूर है। काले से गोरा बनना है। सतयुग में पवित्र देवतायें थे, वह जरूर यहाँ बने होंगे।

तुम जानते हो हम श्रीमत से निर्विकारी बनते हैं। भगवानुवाच, यह है गुप्त। श्रीमत पर चलकर तुम बादशाही पाते हो। बाप कहते हैं तुमको नर से नारायण बनना है। सेकेण्ड में राजाई मिल सकती है। शुरू में बच्चियां 4-5 दिन भी बैकुण्ठ में जाकर रहती थी। शिवबाबा आकर बच्चों को बैकुण्ठ का भी साक्षात्कार कराते थे। देवतायें आते थे – कितना मान-शान से। तो बच्चों को दिल अन्दर लगता है बरोबर गुप्त वेष में आने वाला बाप हमको समझा रहे हैं। ब्रह्मा तन में आते हैं। ब्रह्मा का तन तो यहाँ चाहिए ना। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा स्थापना। बाबा ने समझाया है – कोई भी आते हैं तो उनसे पूछो किसके पास आते हो? बी.के. पास। अच्छा ब्रह्मा का नाम कभी सुना है? प्रजापिता तो है ना। हम सब उनके आकर बने हैं। जरूर आगे भी बने थे। ब्रह्मा द्वारा स्थापना तो साथ में ब्राह्मण भी चाहिए। बाप ब्रह्मा द्वारा किसको समझाते हैं? शूद्रों को तो नहीं समझायेंगे। यह है ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण, शिवबाबा ने ब्रह्मा द्वारा हमको अपना बनाया है। ब्रह्माकुमार-कुमारियां कितने ढेर हैं, कितने सेन्टर्स हैं। सबमें ब्रह्माकुमारियां पढ़ाती हैं। यहाँ हमको दादे का वर्सा मिलता है। भगवानुवाच, तुमको राजयोग सिखाता हूँ। वह निराकार होने कारण इनके शरीर का आधार लेकर हमको नॉलेज सुनाते हैं। प्रजापिता के तो सब बच्चे होंगे ना! हम हैं प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारियां। शिवबाबा है दादा। उन्होंने एडाप्ट किया है। तुम जानते हो हम दादे से पढ़ रहे हैं ब्रह्मा द्वारा। यह लक्ष्मी-नारायण दोनों स्वर्ग के मालिक हैं ना। भगवान तो एक ऊंच ते ऊंच निराकार ही है। बच्चों को धारणा बड़ी अच्छी होनी चाहिए। पहले-पहले समझाओ दो बाप हैं भक्ति मार्ग में। स्वर्ग में है एक बाप। पारलौकिक बाप द्वारा बादशाही मिल गई फिर याद क्यों करेंगे। दु:ख है ही नहीं जो याद करना पड़े। गाते हैं दु:ख हर्ता सुख कर्ता। वह अभी की बात है। जो पास्ट हो जाता है उसका गायन होता है। महिमा है एक की। वह एक बाप ही आकर पतितों को पावन बनाते हैं। मनुष्य थोड़ेही समझते हैं। वह तो पास्ट की कथा बैठ लिखते हैं। तुम अभी समझते हो – बरोबर बाप ने राजयोग सिखाया, जिससे बादशाही मिली। 84 का चक्र लगाया। अभी फिर हम पढ़ रहे हैं, फिर 21 जन्म राज्य करेंगे। ऐसा देवता बनेंगे। ऐसे कल्प पहले बने थे। समझते हो हमने पूरा 84 जन्मों का चक्र लगाया। अब फिर सतयुग-त्रेता में जायेंगे तब तो बाप पूछते हैं आगे कितने बार मिले हो? यह प्रैक्टिकल बात है ना! नया भी कोई सुने तो समझेंगे 84 का चक्र तो जरूर है। जो पहले वाले होंगे उनका ही चक्र पूरा हुआ होगा। बुद्धि से काम लेना है। इस मकान में, इस ड्रेस में बाबा हम आपसे अनेक बार मिलते हैं और मिलते रहेंगे। पतित से पावन, पावन से पतित होते ही आये हैं। कोई चीज़ सदैव नई ही रहे, यह तो हो नहीं सकता। पुरानी जरूर बनती है। हर चीज़ सतो-रजो-तमो में आती है। अभी तुम बच्चे जानते हो नई दुनिया आ रही है। उसको स्वर्ग कहा जाता है। यह है नर्क। वह है पावन दुनिया। बहुत पुकारते हैं – हे पतित-पावन हमको आकर पावन बनाओ क्योंकि दु:ख जास्ती होता जाता है ना। परन्तु यह समझते नहीं कि हम ही पूज्य थे फिर पुजारी बने हैं। द्वापर में पुजारी बने। अनेक धर्म होते गये। बरोबर पतित से पावन, पावन से पतित होते आये हैं। भारत के ऊपर ही खेल है।

तुम बच्चों को अब स्मृति आई है, अब तुम शिव जयन्ती मनाते हो। बाकी और कोई शिव को तो जानते ही नहीं हैं। हम जानते हैं। बरोबर हमको राजयोग सिखलाते हैं। ब्रह्मा द्वारा स्वर्ग की स्थापना हो रही है। जरूर जो योग सीखेंगे, स्थापना करेंगे वही फिर राज्य-भाग्य पायेंगे। हम कहते हैं बरोबर हम कल्प-कल्प बाप से यह राजयोग सीखे हैं। बाबा ने समझाया है – अभी यह 84 जन्मों का चक्र पूरा होता है। फिर नया चक्र लगाना है। चक्र को तो जानना चाहिए ना। भल यह चित्र न हो तो भी तुम समझा सकते हो। यह तो बिल्कुल सहज बात है। बरोबर भारत स्वर्ग था, अब नर्क है। सिर्फ वह लोग समझते हैं कलियुग अजुन बच्चा है। तुम कहते हो – यह तो कलियुग का अन्त है। चक्र पूरा होता है। बाप समझाते हैं मैं आता हूँ पतित दुनिया को पावन बनाने। तुम जानते हो हमको पावन दुनिया में जाना है। तुम मुक्ति, जीवन मुक्तिधाम, शान्तिधाम, सुखधाम और दु:खधाम को भी समझते हो। परन्तु तकदीर में नहीं है तो फिर यह ख्याल नहीं करते कि क्यों न हम सुखधाम में जायें। बरोबर हम आत्माओं का घर वह शान्तिधाम है। वहाँ आत्मा को आरगन्स न होने कारण कुछ बोलती नहीं है। शान्ति वहाँ सबको मिलती है। सतयुग में है एक धर्म। यह अनादि, अविनाशी वर्ल्ड ड्रामा है जो चक्र लगाता ही रहता है। आत्मा कभी विनाश नहीं होती है। शान्तिधाम में भी थोड़ा समय ठहरना ही पड़े। यह बहुत समझ की बातें हैं। कलियुग है दु:खधाम। कितने अनेक धर्म हैं, कितना हंगामा है। जब बिल्कुल दु:खधाम होता है तब ही बाप आते हैं। दु:खधाम के बाद है फुल सुखधाम। शान्तिधाम से हम आते हैं सुख-धाम में, फिर दु:खधाम बनता है। सतयुग में सम्पूर्ण निर्विकारी, यहाँ हैं सम्पूर्ण विकारी। यह समझाना तो बहुत सहज है ना। हिम्मत चाहिए। कहाँ भी जाकर समझाओ। यह भी लिखा हुआ है – हनूमान सतसंग में पीछे जुत्तियों में जाकर बैठता था। तो महावीर जो होंगे वह कहाँ भी जाकर युक्ति से सुनेंगे, देखें क्या बोलते हैं। तुम ड्रेस बदलकर कहाँ भी जा सकते हो, उनका कल्याण करने। बाबा भी गुप्त वेष में तुम्हारा कल्याण कर रहे हैं ना। मन्दिरों में कहाँ भी निमंत्रण मिलता है तो जाकर समझाना है। दिन-प्रतिदिन तुम होशियार होते जाते हो। सबको बाप का परिचय तो देना ही है, ट्रायल करनी होती है। यह तो गाया हुआ है, पिछाड़ी में संन्यासी, राजायें आदि आये। राजा जनक को सेकेण्ड में जीवनमुक्ति मिली। वह फिर जाकर त्रेता में अनुजनक बना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अन्तिम विनाश की सीन देखने के लिए अपनी स्थिति महावीर जैसी निर्भय, अडोल बनानी है। गुप्त याद की यात्रा में रहना है।

2) अव्यक्त वतनवासी फरिश्ता बनने के लिए बेहद सेवा में दधीचि ऋषि की तरह अपनी हड्डी-हड्डी स्वाहा करनी है।

वरदान:- एकान्त और अन्तर्मुखता के अभ्यास द्वारा स्वयं को अनुभवों से सम्पन्न बनाने वाले मायाजीत भव
नॉलेजफुल के साथ पावरफुल अर्थात् अनुभवी मूर्त बनने के लिए एकान्तवासी और अन्तर्मुखी बनो। डग-मग होने का कारण है अनुभव की कमी इसलिए सिर्फ समझने, समझाने वाले या मननमूर्त नहीं बनो, एकान्तवासी बन हर प्वाइंट के अनुभवी बनो तो किसी भी प्रकार के धोखे से, दु:ख वा दुविधा से बच जायेंगे। किसका बच्चा हूँ, क्या प्राप्ति है – इस पहले पाठ का अनुभव कर लिया तो मायाजीत सहज ही हो जायेंगे।
स्लोगन:- जिम्मेवारी सम्भालते हुए डबल लाइट रहने वाले ही बाप के समीप रत्न हैं।

TODAY MURLI 30 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 30 January 2020

30/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father feeds you the nourishment of knowledge and yoga and gives you great hospitality. So, remain constantly happy and content and continue to offer hospitality to others according to shrimat.
Question: What is the most invaluable thing that you have with you at this confluence age which you should look after?
Answer: In this most elevated Brahmin clan, that life of yours is most invaluable and you therefore have to look after your body very well. Do not think that it is just a puppet of clay and that it should finish! No; you have to keep it alive. If someone is ill, do not become fed up with that one. Just tell that person to continue to remember Shiv Baba. To the extent that you have remembrance, accordingly your sins will continue to be cut away. That person should continue to serve. He should stay alive and continue to remember Shiv Baba.

Om shanti. The spiritual Father, who gives each of you a third eye of knowledge, sits here and explains to you spiritual children. No one, except the Father, can give you a third eye of knowledge. You children have now received a third eye of knowledge. You now know that this old world is about to change. The poor people don’t know the One who will change it or how He will change it, because they don’t have a third eye of knowledge. You children have now received a third eye of knowledge through which you now know the beginning, the middle and the end of the world. This is the saccharine of knowledge. Even one drop of saccharine is so sweet. There is just the one expression of knowledge ‘Manmanabhav’: this expression is very sweet. Consider yourself to be a soul and remember the Father. The Father is showing you the path to the land of peace and the land of happiness. The Father has come to give you children the inheritance of heaven and so you children should have a great deal of happiness. It is said: There is no nourishment like happiness. It is as though it is nourishment for those who remain constantly happy and in pleasure. This is the powerful nourishment for staying in pleasure for 21 births. Continue to serve each other with this nourishment. This is very powerful nourishment for one another. No other human beings can offer this hospitality to other human beings. You offer spiritual hospitality to everyone on the basis of shrimat. To give someone the Father’s introduction is also the true state of well-being. You sweet children know that you are receiving the gift of liberation-in-life from the unlimited Father. In the golden age, Bharat was liberated-in-life; it was pure. The Father gives very great and elevated nourishment. This is why there is the song: If you want to know about supersensuous joy, ask the gopes and gopis. This nourishment of knowledge and yoga is firstclass and wonderful and it is only the one spiritual Surgeon who has this nourishment. No one else knows about this nourishment. The Father says: Sweet children, I have brought gifts on the palms of My hands for you. These gifts of liberation and liberation-in-life remain with Me. It is I who come to give you these every cycle. Then, Ravan snatches them away. Therefore, how high your mercury of happiness should rise in you children! You know that it is only the one Father, Teacher and the true Satguru who takes you back with Him. You receive the kingdom of the world from the most beloved Father. This is not a small thing. You should always remain cheerful. “Godly student life is the best. This saying applies to this time. Then, in the new world, too, you will continue to celebrate in happiness. People of the world do not know when true happiness is celebrated. Human beings don’t have any knowledge of the golden age. So, they continue to celebrate it here. However, where can happiness come from in this old tamopradhan world? People here continue to cry out in distress. This is the world of such sorrow. The Father shows you children a very easy path. Stay at home with your families and remain as pure as a lotus. Remember Me while at your businesses. There is a lover and beloved; they continue to remember one another. That one is his beloved and he is her lover. However, here, it is not like that. Here, you are lovers of the Beloved for birth after birth. The Father does not become your lover. You remember that Beloved in order to call Him here. You call out to Him even more when there is lot of sorrow. This is why there is the remembrance: Everyone remembers God at the time of sorrow and no one remembers him at the time of happiness. At this time, the Father is the Almighty Authority. Day by day, Maya is also becoming a tamopradhan almighty authority. Therefore, the Father says: Sweet children, now become soul conscious. Consider yourselves to be souls and remember Me, your Father and, together with this, imbibe divine virtues and you will become like Lakshmi and Narayan. The main aspect in this study is remembrance. You have to remember the highest-on-high Father with a lot of love and affection. That Father is the One who establishes the new world. The Father says: I have come to make you children into the masters of the world. This is why you must remember Me so that your sins of many births can be cut away. The Purifier Father says: You have become very impure. Therefore, now remember Me and you will become pure and become the masters of the pure world. People call out to the Father, the Purifier. Now that the Father has come, you definitely have to become pure. The Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. The golden age was definitely a pure world and so all were happy there. Now, once again, the Father says: Children, continue to remember the land of peace and the land of happiness. This is now the confluence age. The Boatman is taking you from this shore across to the other side. There is not only one boat; the whole world is like a big ship. He takes that across. You sweet children should have so much happiness. For you, there is nothing but happiness. Wah! The unlimited Father is teaching us! Neither have you heard this before nor have you studied this. God speaks: I am teaching you spiritual children Raj Yoga, and so you should study it fully. You should study it fully and also imbibe it fully. Everyone is always numberwise in studying anyway. You should look at yourself: Am I the highest, average or the lowest? The Father says: Check yourself: Am I worthy of claiming a high status? Am I doing spiritual service? The Father says: O children, become serviceable and follow the Father. I have come for the sake of serviceI do service every day. This is why I have taken this one’s chariot. When this one’s chariot becomes ill, I sit in this one and write a murli. When I cannot speak it through the mouth, I write it down instead so that you children don’t miss a murli. Therefore, I am also on service. This is spiritual service. You children too should engage yourself in the Father’s serviceOn Godfatherly Service. Those who make good effort are called mahavirs. It is seen who the mahavirs are who follow Baba’s directions. The Father’s order is: Consider yourselves to be souls and see others as brothers. Forget those bodies. Baba does not see bodies either. The Father says: I only see souls. However, there is the knowledge that a soul cannot speak without a body. I have come into this body. I have taken it on loan. Only when a soul is in a body can he study. Baba sits here (middle of the forehead). This is the immortal throne. A soul is an immortal image. A soul does not become smaller or larger. Bodies become smaller or larger. The middle of the forehead is the throne of each soul. Everyone’s body is different. The immortal throne of some is that of a man and the immortal throne of others is that of a woman. The immortal throne of some is of a child. The Father sits here and teaches spiritual drill to you children. Whenever you talk to anyone, first of all consider yourself to be a soul. I, a soul, am talking to this brother. Give the Father’s message to remember Shiv Baba. It is by having remembrance that the alloy will be removed. When alloy is mixed with gold, the value of the gold decreases. When alloy becomes mixed into you souls, you even become valueless. You have to become pure again. Each of you souls has now received a third eye of knowledge. See your brothers through that eye. By having the vision of brotherhood, your sense organs will not become mischievous. If you want to claim your fortune of the kingdom and become the masters of the world, make effort. Consider everyone to be your brother and donate knowledge to them. This habit will then become firm. All of you are true brothers. The Father has come from up above and you too came from up there. The Father, together with the children, is doing service. The Father gives you the courage to do service. You then have courage, the Father helps you. Therefore, you should practise this: I, the soul, am teaching my brother. It is the soul that studies. This is called spiritual knowledge which you receive from the spiritual Father. The Father comes and gives you this knowledge at the confluence age: Consider yourselves to be souls. You came bodiless and adopted bodies here and played parts for 84 births. You now have to go back again. Therefore, consider yourselves to be souls and have the vision of brotherhood. You have to make this effort. You have to make your own effort. What concern do we have with others? Charity begins at home, that is, first consider yourself to be a soul and explain to your brothers and the arrow will strike the target well. You have to fill yourselves with this force. Only when you make effort will you claim a high status. You also have to tolerate a few things. Just remain silent when anyone says anything wrong. What can others do if you remain silent? Clapping takes place with two hands. If the first one claps with the mouth but the other one remains silent, then the first one will automatically become silent. Only when there is the clapping of two hands is there noise. You children have to bring benefit to each other. The Father explains: Children, if you want to remain constantly happy, become “Manmanabhav” consider yourselves to be souls and remember the Father. See souls, the brothers. So, you children have to instil the habit of staying on the spiritual pilgrimage. This is for your benefit. You have to give the Father’s teachings to your brothers. The Father says: I am giving you souls this knowledge. I only see souls. When a human being talks to another human being, he sees the face. You speak to souls and so you have to see the souls. Although you give knowledge through your bodies, you have to break the consciousness of your bodies. You souls understand that the Supreme Soul, the Father, is giving you this knowledge. The Father also says: I too look at souls. Souls also say: We are looking at the Supreme Soul, the Father. We are receiving knowledge from Him. This is called the give and take of spiritual knowledge of one soul with another. Knowledge is within a soul. The knowledge has to be given to a soul. This is like power. When your knowledge is filled with power and you explain to others, it will instantly strike the target. The Father says: Practise this and see if the arrow strikes the target. Instil this new habit and the consciousness of bodies will be removed and fewer storms of Maya will come. You will not have any bad thoughts. The criminal eye will not remain either. We souls have been around the cycle of 84 births. The play is now about to end. You now have to stay in remembrance of Baba. From tamopradhan, become satopradhan by having remembrance and you will become the masters of the satopradhan world. It is so easy! The Father knows that it is His part to give teachings to the children. This is not a new thing. I have to come every 5000 years. I am bound by this bondage. I sit here and explain to you children: Sweet children, remain on the pilgrimage of remembrance and your last thought will lead you to your destination. This is the final period. Remember Me alone and you will receive salvation. The pillars will become strong with this pilgrimage of remembrance. Only once do you children receive these teachings for becoming soul conscious. This is such wonderful knowledge! Baba is wonderful and Baba’s knowledge is also wonderful. No one else can tell you this at any time. It is now time to return home. This is why the Father says: Sweet children, practise this. Consider yourselves to be souls and give knowledge to souls. You have to use your third eye to see others as brothers. This is the greatest effort. This is the most elevated clan of you Brahmins. At this time, your lives are invaluable and you therefore also have to look after those bodies. Because of being tamopradhan, the lifespan of those bodies has continued to decrease. To the extent that you stay in yoga now, so your lifespan will increase. In the golden age, they will have increased, your lifespan will be 150 years and you therefore have to look after your bodies. Do not think that it is a puppet of clay and so it should finish. No; you have to keep it alive. This is an invaluable life. If someone is ill, do not become fed up with that person. Tell that person to remember Shiv Baba. To the extent that you have remembrance, accordingly your sins will continue to be cut away. That person should continue to serve. He should stay alive and continue to remember Shiv Baba. There is the understanding that he is remembering Baba. It is the soul that is remembering in order to claim the inheritance from the Father. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Check yourself: In my efforts, am I the highest, average or the lowest? Am I worthy of claiming a high status? Am I doing spiritual service?
  2. With your third eye, see souls as brothers. Consider everyone to be a brother and give them knowledge. Instil the habit of staying in the stage of soul consciousness and your physical organs will not cause mischief.
Blessing: May you become an image of success by not being afraid of any paper, but putting a full stop instead and passing fully.
When any type of paper comes to you, do not be afraid of it, do not have any questionssuch as “Why did this come?” Do not waste your time thinking this. Finish the question marks and put a full stop. Only then will you changeclass, that is, you will pass that paper. Those who put a full stop will pass fully, because a full stop is the stage of a point. See but do not see and hear but do not hear. Hear what the Father tells you. Look at what the Father has given you and you will pass fully. The sign of passing is constantly to experience the ascending stage and become a star of success.
Slogan: In order to have self-progress, renounce questions, corrections and quotations and keep your connection fine.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

If any type of obstacle is disturbing your intellect, then with the experimentation of yoga, first of all finish that obstacle. Let there not be the slightest disturbance in your mind or intellect. Let there be such a practice of remaining stable in the avyakt stage that the soul, the spirit, is easily able to know what another soul, spirit, is saying and know the feelings in anyone’s mind.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 January 2020

30-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप तुम्हें ज्ञान योग की खुराक खिलाकर जबरदस्त खातिरी करते हैं, तो सदैव खुश-मौज में रहो और श्रीमत अनुसार सबकी खातिरी करते चलो”
प्रश्नः- इस संगमयुग पर आपके पास सबसे अमूल्य चीज़ कौन सी है, जिसकी सम्भाल करनी है?
उत्तर:- इस सर्वोत्तम ब्राह्मण कुल में आपकी यह जीवन बहुत अमूल्य है, इसलिए शरीर की सम्भाल जरूर करनी है। ऐसे नहीं यह तो मिट्टी का पुतला है, कहाँ यह खलास हो जाये! नहीं। इनको जीते रखना है। कोई बीमार होते हैं तो उनसे तंग नहीं होना चाहिए। उनको बोलो तुम शिवबाबा को याद करो। जितना याद करेंगे उतना पाप कटते जायेंगे। उनकी सर्विस करनी चाहिए, जीता रहे, शिवबाबा को याद करता रहे।

ओम् शान्ति। ज्ञान का तीसरा नेत्र देने वाला रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं। ज्ञान का तीसरा नेत्र सिवाए बाप के और कोई दे नहीं सकता। अभी तुम बच्चों को ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। अभी तुम बच्चे जानते हो कि यह पुरानी दुनिया बदलने वाली है। बिचारे मनुष्य नहीं जानते कि कौन बदलाने वाला है और कैसे बदलाते हैं! क्योंकि उन्हों को ज्ञान का तीसरा नेत्र ही नहीं है। तुम बच्चों को अभी ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है जिससे तुम सृष्टि के आदि मध्य अन्त को जान गये हो। यह है ज्ञान की पीन। सैक्रीन की एक बूंद भी कितनी मीठी होती है। ज्ञान का एक ही अक्षर है मन्मनाभव। यह अक्षर कितना मीठा है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। बाप शान्तिधाम और सुखधाम का रास्ता बता रहे हैं। बाप आये हैं बच्चों को स्वर्ग का वर्सा देने। तो बच्चों को कितनी खुशी रहनी चाहिए। कहते भी हैं खुशी जैसी खुराक नहीं। जो सदैव खुश-मौज में रहते हैं उनके लिए यह जैसे खुराक होती है। 21 जन्म मौज़ में रहने की यह जबरदस्त खुराक है। यह खुराक सदैव एक दो को खिलाते रहो। यह है एक दो की जबरदस्त खातिरी। ऐसी खातिरी और कोई मनुष्य, मनुष्य की कर न सके।

तुम बच्चे श्रीमत पर सभी की रूहानी खातिरी करते हो। सच्ची-सच्ची खुश-खैराफत भी यह है किसको बाप का परिचय देना। मीठे बच्चे जानते हैं बेहद के बाप द्वारा हमको जीवनमुक्ति की सौगात मिलती है। सतयुग में भारत जीवनमुक्त था, पावन था। बाप बहुत बड़ी ऊंची खुराक देते हैं तब तो गायन है अतीन्द्रिय सुख पूछना हो तो गोप-गोपियों से पूछो। यह ज्ञान और योग की कितनी फर्स्ट क्लास वन्डरफुल खुराक है और यह खुराक एक ही रूहानी सर्जन के पास है। और किसको इस खुराक का मालूम ही नहीं है। बाप कहते हैं मीठे बच्चों तुम्हारे लिए तिरी (हथेली) पर सौगात ले आया हूँ। मुक्ति, जीवनमुक्ति की यह सौगात मेरे पास ही रहती है। कल्प-कल्प मैं ही आकर तुमको यह सौगात देता हूँ फिर रावण छीन लेता है। तो अभी तुम बच्चों को कितना खुशी का पारा चढ़ा रहना चाहिए। तुम जानते हो हमारा एक ही बाप, टीचर और सच्चा-सच्चा सद्गुरू है जो हमको साथ ले जाते हैं। मोस्ट बिलवेड बाप से विश्व की बादशाही मिलती है। यह कम बात है क्या! बच्चों को सदैव हर्षित रहना चाहिए। गाडॅली स्टूडेन्ट लाईफ इज़ द बेस्ट। यह अभी का ही गायन है ना। फिर नई दुनिया में तुम सदैव खुशियाँ मनाते रहेंगे। दुनिया नहीं जानती कि सच्ची-सच्ची खुशियाँ कब मनाई जायेंगी। मनुष्यों को तो सतयुग का ज्ञान ही नहीं है तो यहाँ ही मनाते रहते हैं। परन्तु इस पुरानी तमोप्रधान दुनिया में खुशी कहाँ से आई! यहाँ तो त्राहि-त्राहि करते रहते हैं। कितना दु:ख की दुनिया है।

बाप तुम बच्चों को कितना सहज रास्ता बताते हैं। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान रहो। धन्धा-धोरी आदि करते भी मुझे याद करते रहो। जैसे आशिक और माशुक होते हैं, वह तो एक दो को याद करते रहते हैं। वह उनका आशिक, वह उनका माशुक होता है। यहाँ यह बात नहीं है, यहाँ तो तुम सभी एक माशुक के जन्म-जन्मान्तर से आशिक रहे हो। बाप तुम्हारा कभी आशिक नहीं बनता। तुम उस माशुक को आने लिए याद करते आये हो। जब दु:ख जास्ती होता है तो जास्ती सुमिरण करते हैं, तब तो गायन भी है दु:ख में सुमिरण सब करें, सुख में करे न कोय। इस समय जैसे बाप सर्वशक्तिमान है। दिन-प्रतिदिन माया भी सर्वशक्तिमान, तमोप्रधान होती जाती है इसलिए अब बाप कहते हैं मीठे बच्चे देही-अभिमानी बनो। अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो और साथ-साथ दैवीगुण भी धारण करो तुम ऐसे (लक्ष्मी-नारायण) बन जायेंगे। इस पढ़ाई में मुख्य बात है ही याद की। ऊंच ते ऊंच बाप को बहुत प्यार, स्नेह से याद करना चाहिए। वह ऊंच ते ऊंच बाप ही नई दुनिया स्थापन करने वाला है। बाप कहते हैं मैं आया हूँ तुम बच्चों को विश्व का मालिक बनाने इसलिए अब मुझे याद करो तो तुम्हारे अनेक जन्मों के पाप कट जायेंगे। पतित-पावन बाप कहते हैं तुम बहुत पतित बन गये हो इसलिए अब तुम मुझे याद करो तो तुम पावन बन और पावन दुनिया का मालिक बन जायेंगे। पतित-पावन बाप को ही बुलाते हैं ना। अब बाप आये हैं तो जरूर पावन बनना पड़े। बाप दु:खहर्ता, सुखकर्ता है। बरोबर सतयुग में पावन दुनिया थी तो सभी सुखी ही थे। अब बाप फिर से कहते हैं बच्चे शान्तिधाम और सुखधाम को याद करते रहो। अभी है संगमयुग। खिवैया तुमको इस पार से उस पार ले जाते हैं। नईया कोई एक नहीं, सारी दुनिया जैसे एक बड़ा जहाज है। उनको पार ले जाते हैं।

तुम मीठे बच्चों को कितनी खुशियाँ होनी चाहिए। तुम्हारे लिए तो सदैव खुशी ही खुशी है। बेहद का बाप हमको पढ़ा रहे हैं, वाह! यह तो कभी न सुना, न पढ़ा। भगवानुवाच मैं तुम रूहानी बच्चों को राजयोग सिखा रहा हूँ। तो पूरी रीति सीखना चाहिए, धारणा करनी चाहिए। पूरी रीति पढ़ना चाहिए। पढ़ाई में नम्बरवार तो सदैव होते ही हैं। अपने को देखना चाहिए मैं उत्तम हूँ, मध्यम हूँ वा कनिष्ट हूँ? बाप कहते हैं अपने को देखो मैं ऊंच पद पाने के लायक हूँ? रूहानी सर्विस करता हूँ? क्योंकि बाप कहते हैं बच्चे सर्विसएबुल बनो, फालो करो। मैं आया ही हूँ सर्विस के लिए। रोज़ सर्विस करता हूँ इसलिए ही तो यह रथ लिया है। इनका रथ बीमार पड़ जाता है तो मैं इनमें बैठ मुरली लिखता हूँ। मुख से तो बोल नहीं सकते तो मैं लिख देता हूँ। ताकि बच्चों के लिए मुरली मिस न हो तो मैं भी सर्विस पर हूँ ना। यह है रूहानी सर्विस। तो तुम बच्चे भी बाप की सर्विस में लग जाओ। आन गॉड फादरली सर्विस। जो अच्छा पुरुषार्थ करते हैं, अच्छी सर्विस करते हैं उनको महावीर कहा जाता है। देखा जाता है कौन महावीर हैं जो बाबा के डायरेक्शन पर चलते हैं? बाप का फरमान है, अपने को आत्मा समझ भाई-भाई देखो। इस शरीर को भूल जाओ। बाबा भी शरीर को नहीं देखते हैं। बाप कहते हैं मैं आत्माओं को देखता हूँ। बाकी यह तो ज्ञान है कि आत्मा शरीर बिगर बोल नहीं सकती। मैं भी इस शरीर में आया हूँ, लोन लिया हुआ है। शरीर साथ ही आत्मा पढ़ सकती है। बाबा की बैठक यहाँ (भ्रकुटी में) है। यह है अकाल तख्त। आत्मा अकालमूर्त है। आत्मा कब छोटी बड़ी नहीं होती है। शरीर छोटा बड़ा होता है। जो भी आत्मायें हैं उन सभी का तख्त यह भृकुटी है। शरीर तो सभी के भिन्न-भिन्न होते हैं। किसका अकाल तख्त पुरुष का है, किसका अकाल तख्त स्त्री का है, किसका अकाल तख्त बच्चे का है। बाप बैठ बच्चों को रूहानी ड्रिल सिखलाते हैं। जब कोई से बात करो तो पहले अपने को आत्मा समझो। हम आत्मा फलाने भाई से बात करते हैं। बाप का पैगाम देते हैं कि शिवबाबा को याद करो। याद से ही जंक उतरनी है। सोने में जब अलाय पड़ती है तो सोने की वैल्यु ही कम हो जाती है। तुम आत्माओं में भी जंक पड़ने से तुम वैल्युलेस हो गये हो। अब फिर पावन बनना है। तुम आत्माओं को अब ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। उस नेत्र से अपने भाईयों को देखो। भाई-भाई को देखने से कर्मेन्द्रियाँ चंचल नहीं होंगी। राज्य-भाग्य लेना है, विश्व का मालिक बनना है तो यह मेहनत करो। भाई-भाई समझ सभी को ज्ञान दो। तो फिर यह टेव (आदत) पक्की हो जायेगी। सच्चे-सच्चे ब्रदर्स तुम सभी हो। बाप भी ऊपर से आये हैं, तुम भी आये हो। बाप बच्चों सहित सर्विस कर रहे हैं। सर्विस करने की बाप हिम्मत देते हैं। हिम्मते बच्चे मददे बाप… तो यह प्रैक्टिस करनी है। मैं आत्मा भाई को पढ़ाता हूँ। आत्मा पढ़ती है ना। इसको प्रीचुअल नॉलेज कहा जाता है, जो रूहानी बाप से ही मिलती है। संगम पर ही बाप आकर यह नॉलेज देते हैं कि अपने को आत्मा समझो। तुम नंगे आये थे फिर यहाँ शरीर धारण कर तुमने 84 जन्म पार्ट बजाया है। अब फिर वापिस चलना है इसलिए अपने को आत्मा समझ भाई-भाई की दृष्टि से देखना है। यह मेहनत करनी है। अपनी मेहनत करनी है, दूसरे में हमारा क्या जाता! चैरिटी बिगेन्स एट होम अर्थात् पहले खुद को आत्मा समझ फिर भाईयों को समझाओ। तो अच्छी रीति तीर लगेगा। यह जौहर भरना है। मेहनत करेंगे तब ही ऊंच पद पायेंगे। इसमें कुछ सहन भी करना पड़ता है। जब कोई उल्टी-सुल्टी बात बोले तो तुम चुप रहो। तुम चुप रहेंगे तो फिर दूसरा क्या करेगा! ताली दो हाथ से बजती है। एक ने मुख की ताली बजाई, दूसरा चुप कर दे तो वह आपेही चुप हो जायेंगे। ताली से ताली बजने से आवाज हो जाता है। बच्चों को एक दो का कल्याण करना है। बाप समझाते हैं बच्चे सदैव खुशी में रहने चाहते हो तो मन्मनाभव। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। भाईयों (आत्माओं) तरफ देखो। तो बच्चों को रूहानी यात्रा पर रहने की आदत डालनी है। तुम्हारे ही फायदे की बात है। बाप की शिक्षा भाईयों को देनी है। बाप कहते हैं मैं तुम आत्माओं को ज्ञान दे रहा हूँ। आत्मा को ही देखता हूँ। मनुष्य-मनुष्य से बात करेंगे तो उनके मुँह को देखेंगे ना। तुम आत्मा से बात करते हो तो आत्मा को ही देखना है। भल शरीर द्वारा ज्ञान देते हो परन्तु इसमें शरीर का भान तोड़ना होता है। तुम्हारी आत्मा समझती है परमात्मा बाप हमको ज्ञान दे रहे हैं। बाप भी कहते हैं आत्माओं को देखता हूँ, आत्मायें भी कहती हम परमात्मा बाप को देख रहे हैं। उनसे नॉलेज ले रहे हैं, इसको कहा जाता है प्रीचुअल ज्ञान की लेन-देन, आत्मा की आत्मा के साथ। आत्मा में ही ज्ञान है। आत्मा को ही ज्ञान देना है। यह जैसे जौहर है। तुम्हारे ज्ञान में यह जौहर भर जायेगा। तो किसको भी समझाने से झट तीर लग जायेगा। बाप कहते हैं प्रैक्टिस करके देखो, तीर लगता है ना। यह नई टेव डालनी है तो फिर शरीर का भान निकल जायेगा। माया के तूफान कम आयेंगे। बुरे संकल्प नहीं आयेंगे। क्रिमिनल आई भी नहीं रहेगी। हम आत्मा ने 84 का चक्र लगाया। अब नाटक पूरा होता है। अब बाबा की याद में रहना है। याद से ही तमोप्रधान से सतोप्रधान बन, सतोप्रधान दुनिया के मालिक बन जायेंगे। कितना सहज है। बाप जानते हैं बच्चों को यह शिक्षा देना भी मेरा पार्ट ही है। कोई नई बात नहीं। हर 5000 वर्ष बाद हमको आना होता है। मैं बंधायमान हूँ। बच्चों को बैठ समझाता हूँ मीठे बच्चे रूहानी याद की यात्रा में रहो तो अन्त मते सो गति हो जायेगी। यह अन्तकाल है ना! मामेकम् याद करो तो तुम्हारी सद्गति हो जायेगी। याद की यात्रा से पाया मजबूत हो जायेगा। यह देही-अभिमानी बनने की शिक्षा एक ही बार तुम बच्चों को मिलती है। कितना वन्डरफुल ज्ञान है। बाबा वन्डरफुल है तो बाबा का ज्ञान भी वन्डरफुल है। कब कोई बता न सके। अभी वापस चलना है इसलिए बाप कहते हैं मीठे बच्चों यह प्रैक्टिस करो। अपने को आत्मा समझ आत्मा को ज्ञान दो। तीसरे नेत्र से भाई-भाई को देखना है। यही बड़ी मेहनत है।

यह है तुम ब्राह्मणों का सर्वोत्तम ऊंच ते ऊंच कुल। इस समय तुम्हारा जीवन अमूल्य है इसलिए इस शरीर की भी सम्भाल करनी है। तमोप्रधान होने कारण शरीर की आयु भी कम होती गई है। अब तुम जितना योग में रहेंगे, उतना आयु बढ़ेगी। तुम्हारी आयु बढ़ते-बढ़ते 150 वर्ष हो जायेगी सतयुग में, इसलिए शरीर की भी सम्भाल करनी है। ऐसे नहीं यह तो मिट्टी का पुतला है, कहाँ यह खलास हो जाये। नहीं। इनको जीते रखना है। यह अमूल्य जीवन है ना! कोई बीमार होते हैं तो उनसे तंग नहीं होना चाहिए। उनको भी बोलो शिवबाबा को याद करो। जितना याद करेंगे उतना उनके पाप कटते जायेंगे। उनकी सर्विस करनी चाहिए। जीता रहे, शिवबाबा को याद करता रहे। यह समझ तो रहती है ना हम बाबा को याद करते हैं। आत्मा याद करती है, बाप से वर्सा पाने के लिए। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने को देखो मैं पुरुषार्थ में उत्तम हूँ, मध्यम हूँ या कनिष्ट हूँ? मैं ऊंच पद पाने के लायक हूँ? मैं रूहानी सर्विस करता हूँ?

2) तीसरे नेत्र से आत्मा भाई को देखो, भाई-भाई समझ सभी को ज्ञान दो, आत्मिक स्थिति में रहने की आदत डालो तो कर्मेन्द्रियां चंचल नहीं होंगी।

वरदान:- पेपर में घबराने के बजाए फुल स्टॉप देकर फुल पास होने वाले सफलतामूर्त भव
जब किसी भी प्रकार का पेपर आता है तो घबराओ नहीं, क्वेश्चन मार्क में नहीं आओ, यह क्यों आया? इस सोचने में टाइम वेस्ट मत करो। क्वेचन मार्क खत्म और फुल स्टॉप, तब क्लास चेंज होगा अर्थात् पेपर में पास होंगे। फुलस्टाप देने वाला फुल पास होगा क्योंकि फुलस्टॉप है बिन्दी की स्टेज। देखते हुए न देखो, सुनते हुए न सुनो। बाप का सुनाया हुआ सुनो, बाप ने जो दिया है वह देखो तो फुल पास हो जायेंगे और पास होने की निशानी-सदा चढ़ती कला का अनुभव करते हुए सफलता के सितारे बन जायेंगे।
स्लोगन:- स्वउन्नति करनी है तो क्वेश्चन, करेक्शन और कोटेशन का त्याग कर अपना कनेक्शन ठीक रखो।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

किसी भी प्रकार का विघ्न बुद्धि को सताता हो तो योग के प्रयोग द्वारा पहले उस विघ्न को समाप्त करो। मन-बुद्धि में जरा भी डिस्टरबेन्स न हो। अव्यक्त स्थिति में स्थित होने का ऐसा अभ्यास हो जो रूह, रूह की बात को या किसी के भी मन के भावों को सहज ही जान जाये।

TODAY MURLI 30 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 January 2019 :- Click Here

30/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are Raj Rishis. You have to make effort to attain a kingdom, and, together with that, you also definitely have to imbibe divine virtues.
Question: What effort do you have to make in order to become an elevated human being? To what do you need to pay a lot of attention?
Answer: If you want to become an elevated human being, never sulk with your study. Fighting and quarrelling have no connection with studying. Those who study will become lords. Therefore, you should always be concerned about your progress. You need to pay a lot of attention to your behaviour. You have to become like deities and so your behaviour has to be royal. You have to become very sweet. Let only words that everyone finds sweet and that don’t cause sorrow for anyone emerge from your lips.

Om shanti. The Father explains to you sweetest, spiritual children and asks you: Where are your intellects focused? The intellects of human beings wander, sometimes to one place, sometimes somewhere else. The Father explains: Your intellects should stop wandering. Focus your intellects on one thing. Only remember the unlimited Father. You spiritual children know that the whole world is now tamopradhan. Souls were satopradhan according to the efforts they had made and have now become tamopradhan. The Father says: You have to become satopradhan. Therefore, connect your intellects to the Father. You now have to return home. No one else knows that they have to return home. No one else would receive the direction: Children, remember Me, your Father. The Father explains such easy things to you. Simply remember the Father and your sins will be absolved. No one else can explain in this way. Only the Father explains this. The one whom He has entered also hears Him. The Father gives the best directions for becoming pure from impure and for following those directions. Baba says: Children, you were satopradhan and you now have to become that again. You belonged to the original eternal deity religion, you then took 84 births and have now become like shells. You were like diamonds and you have to become like that once again. Baba tells you something very simple: Consider yourselves to be souls. Souls now have to go back home. Bodies will not go back. You have to go back with the Father in happiness. Only by following the shrimat that the Father gives you will you become elevated. Pure souls will go to the incorporeal world and then, when they return, they will adopt new bodies. You have this faith. Therefore, you should just have this one concern. You also have to imbibe divine virtues so that there will be a lot of benefit. Students who study very well claim a high status. This too is a study. You study in the same way every cycle. The Father also teaches you in the same way every cycle. The time that passes is said to be the drama. The act s of the Father and the children continue according to the drama. TheFather gives you accurate advice. Children say: Baba, we repeatedly forget You. Those are storms of Maya. Maya extinguishes your light. The Father is also called the Flame. He is called the Almighty Authority too. He tells you the essence of all the Vedas and scriptures. He is knowledge-full and explains to you the secrets of the beginning, middle and end of the world. Father Brahma says: I too explain to you children. The Father would say: I explain to you children, and Brahma is also included in this. There is no need to be confused about this. This is very easy Raj Yoga. You are Raj Rishis. Pure souls are called rishis. There cannot be any rishis like you. The soul, not the body, is called a rishi. The soul is a rishi, a Raj Rishi. Where do you claim your kingdom from? From the Father. So you children should be so happy. We are claiming our fortune of the kingdom from Shiv Baba. The Father has reminded you: You were the masters of the world and you then continued to come down while taking rebirth. There are the images of the deities. People think that a light merged into the Light. The Father has explained to you: Not a single human being merges into the Light. No one can attain liberation or liberation-in-life. So, throughout the whole day, you children should have these thoughts inside you. The more you stay in remembrance, the more happiness you will experience. Look who is teaching you! They even call Krishna, LordKrishna. God would never be called Lord. He is only called God, the Father. He is Heavenly God, the Father. It touches your hearts that He is Heavenly God, the Father, who is establishing the deity kingdom. In the golden age, there were no other religions. There are the images of these deities. They are called the original, eternal deities; they were the masters of the world. They are called golden aged and you are confluence aged. You know that Baba is making you righteous. You continue to become righteous. Those who are vicious are called unrighteous. “Unrighteous”means not a single step is right. Those deities are pure. They are shown with the light of purity. They descend from Shivalaya and come into the brothel. Those who are new here cannot understand these things until you give them the Father’s introduction very clearly, that He is H eavenly God, the Father. There are the two words: heaven and hell, happiness and sorrow, heaven and hell. You know that there was happiness in Bharat and that there is now sorrow. The Father comes and gives you happiness. The time of sorrow is now to end. The Father brings the gift of happiness for you children. He gives happiness to everyone and this is why everyone prays to Him. Even sannyasis etc. do tapasya. They too definitely have one desire or another. There are no such things in the golden age. There is no one of any other religion there. You are now making effort to go to the new world. You know that that is the land of happiness, the other is the land of peace and this is the land of sorrow. You are now at the confluence age. You are making effort to become elevated human beings. You have to make effort very well. You must never sulk with the study. If you don’t get on with someone, you mustn’t stop studying. Fighting and quarrelling have no connection with studying. Those who study will become lords. If you fight and quarrel, how would you become lords? When you do that, your behaviour becomes tamopradhan. Each one of you has to be concerned about your own progress. The Father says: O souls, remember the Father and your sins will be absolved. You also have to imbibe divine virtues. If you want to become like Lakshmi or Narayan, understand that it was the Father who made them become like that. The Father says: You were the ones who ruled that kingdom. You are the ones who now have to become like them again. The Father teaches you Raja Yoga at the confluence age. You become this every cycle. It isn’t that the iron age will continue all the time. After the iron age, there is the golden age. This cycle definitely continues to turn. There were few people in the golden age, and so there will now definitely have to be few people again. These matters are easy to understand. Baba is telling you the story of the past. It is a short story. In fact, it is long, but it is short to understand. There is the secret of 84 births. Previously, you too did not know this. You now understand that you are studying. This is the study of the confluence age. The drama has now been around the cycle. It will then begin again with the golden age. This old world has to change. The iron-aged forest will end and there will then be the golden-aged garden of flowers. Those who have divine virtues are said to be flowers. Those who have devilish traits are said to be thorns. You have to check to see that there are no defects in you. We are now becoming worthy of becoming deities and so we definitely have to imbibe divine virtues. The Father comes as the Father, Teacher and Satguru and so you definitely have to reform your character. People say: Everyone’s character is spoilt. However, they also don’t know what a good character is. You can explain that the characterof those deities was good. They never caused anyone sorrow. When someone’s behaviour is good, they say: That one is like a goddess; her words are so sweet! The Father says: I am making you into deities, and so you have to become very sweet. Divine virtues have to be imbibed. Whatever someone is, he would make you the same. All of you have to become teachers. The children of the T eacher are teachers. You are the Pandava Army. The duty of guides is to show everyone the path. Divine virtues have to be imbibed and you also have to live at home with your family. You can do service at home too. Those who come will be taught. There are many who open a Gita Pathshala at their place and continue to serve many. It isn’t that you have to come and sit here. This is very easy for kumaris. You can tour around for a couple of months and then return home. You don’t have to renounce your home and family. When your family calls you, you are not forbidden to go there. There is no question of any loss or weakness in this. In fact, there would be greater enthusiasm: I too have now become clever. I will make the members of my family the same as myself and bring them with me. There are many who live at home and do service and become very clever. The Father explains the main thing: Consider yourself to be a soul and remember Me, your Father. You have to benefit yourself. Those who live at home can make even better progress than those who live here. You are never forbidden to go home. You also have to benefit them. Those who have developed the habit of benefiting others cannot stay without doing service. If you have good knowledge and yoga, no one can be disrespectful to you. If there isn’t yoga, Maya slaps you. So, you definitely have to live at home and become as pure as a lotus. Baba gives you freedom: You may also live at home. How could everyone come and stay here? However many people come here, that many buildings have to be built for them. Whatever happened in the previous cycle will continue to repeat. The number of children will also continue to grow. Nothing is going to happen without the drama. All the wars that take place and all the people that die are fixed in the drama. Whatever has become the past will repeat. Whatever I have explained to you every cycle, I will explain the same things now. No matter what people think, I will play the same part that is fixed for Me. It cannot be any less or any more in the drama. Those who studied in the previous cycle are the ones who will study again. You continue to have visions of everyone’s activities as to how much everyone is studying and what status they will claim. If someone is doing good service and suddenly has an accident, he will go and take birth in a good home; he will remain very happy. To the extent that he has given happiness to others, accordingly he will also continue to receive that much happiness. This income is never lost. Where there is victory, there will be birth in the golden age. If you have given happiness to many, you will receive a golden spoon in the mouth. If there is less than that, it will be silver. If less than that, then copper. You understand, do you not, how much yoga you have? There will be kings, queens and subjects; all have to be created. If you don’t study well, if you don’t imbibe divine virtues, your status will be reduced. Your good and bad actions will definitely appear in front of you. Each of you souls knows to what extent you do service and what status you would receive if you were to leave your body now. You are now studying and reforming yourselves. Some even get spoilt and so it is said: It is not in their fortune. Baba is making you so elevated. No one should go empty-handed from the home of the Lord. The Lord is now personally in front of you. If you even speak a few words of knowledge to someone, that one will definitely become part of the subjects. Those of the deity religion continue to come even now. However, because they are now impure, they call themselves Hindus. You have this knowledge in your intellects just as Baba has. The Father is the Ocean of Knowledge. He tells you how this history and geography repeatTeachers also know from how much the students are studying, with how many marks they will pass. Each one also knows this for himself. Some are weak in divine virtues, some are weak in yoga and some are weak in knowledge. Because of being weak, they fail. It isn’t that if they are weak in something today, they can’t become strong in that tomorrow; they can continue to gallop. If you yourself feel that you will fail in every subject, that so-and-so is cleverer than you, you can therefore study and become clever. If you have body consciousness, what would you be able to study? Make it very firm: I am a soul. The Father has reminded you. The Father says: Remember Me and your sins will be absolved. You will then also be able to imbibe divine virtues. Check your pulse as to what extent you have become worthy. You are now receiving the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. No one, apart from the Father, can teach you the knowledge of Raj Yoga. Children, continue to study this. Some children ask: How many Brahmins are there in our clan? How can we tell? They continue to come and go. New ones will now continue to emerge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make your character divine. Imbibe divine virtues and benefit yourself and everyone else. Give everyone happiness.
  2. In order to become satopradhan, connect your intellect with the one Father. Don’t allow your intellect to wander. Become a teacher, the same as the Father, and show everyone the path.
Blessing: May you be filled with the treasure of happiness and become a charitable soul who gives the donation of happiness to unhappy souls.
At this time, the world has sorrow at every moment whereas you have happiness at every moment. So, to give happiness to unhappy souls is the greatest charity of all. People of the world spend so much time and money to be happy, whereas you have easily received the treasure of imperishable happiness. Now, simply continue to share with others what you have received. To share it means to increase it. Let whoever comes into connection with you experience your having received some elevated attainment in which you have happiness.
Slogan: An experienced soul can never be deceived by anything. Such a soul is always victorious.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

In order to make your stage unshakeable and immovable, the same as Father Brahma’s, give regard to each one’s advice while staying in any atmosphere or environment. Never become confused on hearing anyone’s advice because those who are instruments are experienced. Even if any of their directions is not clear, do not come into upheaval. Gently tell them that you will try to understand it and then your stage will remain constant, steady, unshakeable and immovable.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 January 2019

To Read Murli 29 January 2019 :- Click Here
30-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम राजऋषि हो, तुम्हें राजाई प्राप्त करने के लिए पुरुषार्थ करना है, साथ-साथ दैवी गुण भी ज़रूर धारण करने हैं।”
प्रश्नः- उत्तम पुरुष बनने का पुरुषार्थ क्या है? किस बात पर बहुत अटेन्शन चाहिए?
उत्तर:- उत्तम पुरुष बनना है तो पढ़ाई से कभी रूठना नहीं। पढ़ाई से लड़ने झगड़ने का तैलुक नहीं। पढ़ेंगे लिखेंगे होंगे नवाब..इसलिए सदा अपनी उन्नति का ख्याल रहे। चलन पर बहुत अटेन्शन चाहिए। देवताओं जैसा बनना है तो चलन बड़ी रॉयल चाहिए। बहुत-बहुत मीठा बनना है। मुख से ऐसे बोल निकलें जो सबको मीठे लगे। किसी को दु:ख न हो।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति बाप बैठ समझाते हैं और पूछते हैं कि आपकी बुद्धि का ठिकाना कहाँ है? मनुष्यों की बुद्धि तो भटकती है, कभी कहाँ, कभी कहाँ। बाप समझाते हैं तुम्हारी बुद्धि का भटकना बन्द। बुद्धि को एक ठिकाने लगाओ। बेहद के बाप को ही याद करो। यह तो रूहानी बच्चे जानते हैं अब सारी दुनिया तमोप्रधान है। आत्मायें ही सतोप्रधान थीं नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। अब तमोप्रधान बनी हैं फिर बाप कहते हैं सतोप्रधान बनना है इसलिए अपनी बुद्धि को बाप के साथ लगाओ। अब वापिस जाना है और कोई को भी पता नहीं कि हमको वापिस घर जाना है। और कोई भी नहीं होगा जिसको डायरेक्शन मिलते हों कि बच्चे मुझ बाप को याद करो। कितनी सहज बात समझाते हैं। सिर्फ बाप को याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जायेंगे और कोई ऐसे समझा न सके, बाप ही समझाते हैं। जिसमें प्रवेश किया वह भी सुनते हैं। पतित से पावन बनने की और उस पर चलने की सबसे अच्छी मत बाप देते हैं। बाबा कहते हैं बच्चे तुम ही सतोप्रधान थे अब फिर बनना है। तुम ही आदि सनातन देवी देवता धर्म के थे फिर 84 जन्म भोग कौड़ी मिसल बन पड़े हो। तुम हीरे मिसल थे अब फिर बनना है। बाबा बहुत सिम्पुल बात सुनाते हैं कि अपने को आत्मा समझो। आत्माओं को ही वापिस जाना है, शरीर तो नहीं जायेगा। बाप के पास खुशी से जाना है। बाप जो श्रीमत देते हैं, उससे ही तुम श्रेष्ठ बनेंगे। पवित्र आत्मायें मूलवतन में जाकर फिर आयेंगी तो नया शरीर लेंगी। यह तो निश्चय है ना, तो फिर वही तात लगी रहे। दैवी गुण भी धारण करने हैं तो बहुत फायदा होगा। स्टूडेन्ट जो अच्छी पढ़ाई पढ़ते हैं वही ऊंच पद पाते हैं। यह भी पढ़ाई है। तुम कल्प-कल्प ऐसे ही पढ़ते हो। बाप भी कल्प-कल्प ऐसे ही पढ़ाते हैं। जो टाइम पास हुआ वह ड्रामा। ड्रामा अनुसार ही बाप की और बच्चों की एक्ट चली। बाबा राय तो ठीक देते हैं ना। बच्चे कहते हैं बाबा हम आपको घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। यही तो माया के तूफान हैं। माया दीवा बुझा देती है। बाप को शमा भी कहते हैं, सर्वशक्तिमान् अथॉरिटी भी कहते हैं। जो भी वेद शास्त्र हैं सबका सार बतलाते हैं। वह नॉलेजफुल है सृष्टि के आदि मध्य अन्त का राज़ समझाते हैं। यह ब्रह्मा बाबा भी कहेंगे हम बच्चों को समझाते हैं। बाप कहेंगे तुम बच्चों को समझाता हूँ। उसमें यह ब्रह्मा भी आ जाता है। इसमें मूँझने की बात नहीं। यह है बहुत सहज राजयोग। तुम राजऋषि हो, ऋषि पवित्र आत्मा को कहा जाता है। तुम्हारे जैसा ऋषि तो कोई हो न सके। आत्मा को ही ऋषि कहा जाता है। शरीर को नहीं कहेंगे। आत्मा है ऋषि। राजऋषि। राज्य कहाँ से लेते हैं? बाप से। तो तुम बच्चों को कितनी खुशी रहनी चाहिए। हम शिवबाबा से राज्य भाग्य ले रहे हैं। बाप ने स्मृति दिलाई है तुम विश्व के मालिक थे, फिर पुनर्जन्म लेते-लेते नीचे उतरते आये हो। देवताओं के चित्र भी हैं। मनुष्य समझते हैं यह ज्योति ज्योत समा गये। अब बाप ने समझाया है एक भी मनुष्य ज्योति ज्योत नहीं समाता। कोई भी मुक्ति जीवनमुक्ति पा नहीं सकते। तो सारा दिन अन्दर में बच्चों के विचार चलने चाहिए। जितना याद में रहेंगे उतना खुशी होगी। पढ़ाई पढ़ाने वाला देखो कौन है।

कृष्ण को लार्ड कृष्णा भी कहते हैं। भगवान को कभी लार्ड नहीं कहेंगे। उनको गाड फादर ही कहते हैं। वह है हेविनली गाड फादर। तुमको अब दिल से लगता है कि वही हेविनली गाड फादर हेविन अर्थात् दैवी राजधानी स्थापन कर रहे हैं। सतयुग में दूसरा कोई धर्म था नहीं। चित्र भी इन देवताओं के हैं, उनको ही आदि सनातन देवी देवता कहा जाता है। यह विश्व के मालिक थे। उन्हों को कहेंगे सतयुगी, तुम हो संगमयुगी। तुम जानते हो बाबा हमको राइटियस बनाते हैं। तुम राइटियस बनते जाते हो। विकारी को अनराइटियस कहा जाता है। यह देवतायें पवित्र हैं। लाइट भी पवित्रता की दिखाई है। अनराइटियस माना एक भी कदम राइट नहीं। शिवालय से उतर वेश्यालय में आ जाते हैं। यह बातें नया कोई समझ न सके। जब तक तुम उनको बाप का परिचय अच्छी तरह न दो कि वह है हेविनली गाड फादर। हेविन और हेल दोनों अक्षर हैं। सुख और दु:ख, स्वर्ग और नर्क। तुम जानते हो भारत में सुख था, अभी दु:ख है, फिर बाप आकर सुख देते हैं। अब दु:ख का समय खत्म होना है। बाबा बच्चों के लिए सुख की सौगात ले आते हैं। सबको सुख देते हैं तब तो सब उनकी बन्दगी करते हैं। सन्यासी, उदासी भी तपस्या करते हैं, उनको भी कोई न कोई आश जरूर रहती है। सतयुग में ऐसी कोई बात नहीं। वहाँ और कोई धर्म वाले होते ही नहीं। तुम तो अब पुरुषार्थ कर रहे हो नई दुनिया में जाने के लिए। जानते हो वह है सुखधाम, वह है शान्तिधाम, यह है दु:खधाम। तुम अभी संगम पर हो, उत्तम पुरुष बनने के लिए पुरुषार्थ कर रहे हो। पुरुषार्थ बहुत अच्छी रीति करना है। पढ़ाई से कभी रूठना नहीं है। कोई से अनबनी होती है तो पढ़ाई नहीं छोड़नी चाहिए। पढ़ाई से लड़ने झगड़ने का तैलुक नहीं है। पढ़ेंगे लिखेंगे होंगे नवाब…..लड़ेंगे झगड़ेंगे तो नवाब कैसे बनेंगे, फिर तमोप्रधान चलन हो जाती है। हर एक को अपनी उन्नति का ख्याल करना चाहिए। बाप कहते हैं हे आत्मायें बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे और दैवीगुण भी धारण होंगे। अगर लक्ष्मी-नारायण जैसा बनना है तो बाप ने ही उन्हों को भी ऐसा बनाया। बाप कहते हैं तुम ही यह राज्य करते थे। अब फिर तुमको ही बनना है। राजयोग बाप संगम पर ही सिखाते हैं। तुम कल्प-कल्प यह बनते हो। ऐसे नहीं सदैव कलियुग ही चलता रहेगा। कलियुग के बाद सतयुग…यह चक्र फिरता है जरूर। सतयुग में मनुष्य कम थे, अब फिर जरूर कम होने चाहिए। यह तो सहज समझने की बातें हैं। बीती हुई कहानी सुनाते हैं। छोटी सी कहानी है। वास्तव में है बड़ी परन्तु समझने में छोटी है। 84 जन्मों का राज़ है। तुमको भी आगे मालूम नहीं था, अब तुम समझते हो हम पढ़ रहे हैं। यह है संगमयुग की पढ़ाई। अब ड्रामा का चक्र फिरकर आया है, फिर सतयुग से लेकर शुरू होगा। इस पुरानी सृष्टि को बदलना है। कलियुगी जंगल का विनाश होगा फिर सतयुगी फूलों का बगीचा होगा। फूल दैवी गुण वाले को कहा जाता है। काँटा आसुरी गुण वाले को कहा जाता है। अपने को देखना है मेरे में कोई अवगुण तो नहीं है। अभी हम देवता बनने लायक बन रहे हैं तो दैवी गुण जरूर धारण करना पड़े। बाप टीचर सतगुरू बनकर आते हैं तो कैरेक्टर जरूर सुधारना पड़े। मनुष्य कहते हैं सबके कैरेक्टर खराब हैं। लेकिन अच्छा कैरेक्टर किसको कहा जाता – यह भी नहीं जानते। तुम समझा सकते हो इन देवताओं के कैरेक्टर अच्छे थे ना। यह कभी किसको दु:ख नहीं देते थे। कोई की चलन अच्छी होती है तो कहते हैं यह तो जैसे देवी है, इनके बोल कितने मीठे हैं। बाप कहते हैं तुमको देवता बनाता हूँ तो तुमको बहुत मीठा बनना पड़े। दैवी गुण धारण करने हैं। जो जैसा है वैसा ही बनायेंगे। तुम सबको टीचर बनना है। टीचर के बच्चे टीचर। तुम पाण्डव सेना हो ना। पण्डों का काम है सबको रास्ता बताना। दैवी गुण धारण करने हैं। गृहस्थ व्यवहार में भी रहना है। घर में भी सर्विस कर सकते हो। जो आयेंगे टीच करते रहेंगे (पढ़ाते रहेंगे), ऐसे बहुत हैं जो अपने पास गीता पाठशाला खोल बहुतों की सर्विस करते रहते हैं। ऐसे नहीं कि यहाँ आकर बैठना है। कन्याओं के लिए तो बहुत सहज है। मास दो चक्र लगाया फिर गये घर। घर का सन्यास तो नहीं करना है। तुमको घर से बुलावा आता है तो जाते हो, तुमको मना नहीं है। इसमें कोई घाटे की (कमी की) बात नहीं है और भी उमंग आयेगा। हम भी अभी होशियार हुए हैं। घर वालों को भी आप समान बनाकर साथ ले जायेंगे। ऐसे बहुत हैं जो घर में रहकर भी सर्विस करते हैं तो होशियार हो जाते हैं।

बाप मुख्य बात समझाते हैं कि अपने को आत्मा समझो और मुझ बाप को याद करो। अपनी उन्नति करनी है। घर में रहने वालों की यहाँ रहने वालों से भी अच्छी उन्नति हो सकती है। तुम को कभी मना नहीं की जाती है कि घर में नहीं जाओ। उन्हों का भी कल्याण करना है। जिनको कल्याण करने की आदत पड़ जाती है वह रह नहीं सकते। ज्ञान और योग पूरा है तो कोई भी बेइज्जती नहीं कर सकते। योग नहीं है तो माया भी थप्पड़ लगाती है। तो घर गृहस्थ में रह कमल फूल समान पवित्र जरूर बनना है। बाबा तो फ्रीडम देते हैं भल घर में भी रहो। सब यहाँ आकर कैसे रहेंगे। जितने आते हैं उन्हों के लिए उतने मकान आदि बनाने पड़ते हैं। कल्प पहले जो कुछ हुआ है वह रिपीट होता रहेगा। बच्चे भी वृद्धि को पाते रहेंगे। ड्रामा बिगर कुछ होने का नहीं है। यह जो लड़ाईयाँ आदि लगती हैं – इतने मनुष्य आदि मरते हैं, यह सब ड्रामा में नूँध है। जो पास्ट हुआ वह फिर रिपीट होगा। जो कल्प-कल्प समझाया है वही अब भी समझाऊंगा। मनुष्य भल क्या भी विचार करें, मैं तो वही पार्ट बजाऊंगा, जो मेरा नूँधा हुआ है। ड्रामा में कम जास्ती हो नहीं सकता। जो कल्प पहले पढ़े थे, वही पढ़ेंगे। हरेक की चलन से साक्षात्कार भी होता रहता है। यह क्या पढ़ते हैं, क्या पद पायेंगे। अच्छी सर्विस करते हैं, समझो अचानक एक्सीडेंट हो जाता है तो जाकर अच्छे कुल में जन्म लेंगे। बहुत सुखी रहेंगे। जितना सुख बहुतों को दिया है उतना उनको भी मिलेगा। यह कमाई कभी जाती नहीं है। सतयुग में तो जहाँ जीत वहाँ जन्म होगा। बहुतों को सुख दिया होगा तो गोल्डन स्पून इन दी माउथ मिलेगा। उससे कम तो सिलवर, उससे कम तो पीतल का मिलेगा। समझ में तो आता है ना। कितना हमारा योग है, राजा, रानी प्रजा सब बनने वाले हैं। अच्छी रीति नहीं पढ़ेंगे, दैवीगुण धारण नहीं करेंगे तो पद कम हो जायेगा। अच्छे वा बुरे कर्म जरूर सामने आते हैं। आत्मा को मालूम है हम कहाँ तक सर्विस कर रहे हैं। अगर अब शरीर छूट जाए तो क्या पद पायेंगे! अभी तुम पढ़कर सुधर रहे हो। कोई तो बिगड़ते भी हैं तो कहेंगे इनकी तकदीर में नहीं है। बाबा तो कितना ऊंच बनाते हैं। सांई के घर से कोई खाली न जाए। अभी सांई तुम्हारे सम्मुख है। कोई को तुम दो अक्षर भी सुनाओ, वह भी प्रजा में आयेंगे जरूर। देवी देवता धर्म वाले अब तक आते रहते हैं। परन्तु अब पतित होने कारण अपने को हिन्दू कहलाते हैं। तुम्हारी बुद्धि में यह ज्ञान ऐसे है जैसे बाबा के पास है। बाप ज्ञान का सागर है। बतलाते हैं यह हिस्ट्री-जॉग्राफी कैसे रिपीट होती है। टीचर भी स्टूडेन्ट की पढ़ाई से जान जाते हैं कि यह कितने मार्क्स में पास होंगे। हर एक खुद भी जानते हैं। कोई दैवी गुणों में कच्चे हैं, कोई योग में कच्चे हैं, कोई ज्ञान में कच्चे हैं। कच्चे होने से नापास हो जायेंगे। ऐसे भी नहीं आज कच्चे हैं, कल पक्के नहीं हो सकते। गैलप करते रहेंगे। खुद भी फील करते हैं हम जहाँ तहाँ से फेल हो आते हैं। फलाने हमसे होशियार हैं। सीखकर होशियार भी हो सकते हैं। अगर देह-अभिमान होगा तो फिर क्या सीख सकेंगे। मैं आत्मा हूँ यह तो एकदम पक्का कर दो। बाप ने स्मृति दिलाई है। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे, फिर दैवीगुण धारण होंगे। अपनी नब्ज़ देखनी है कि मैं कहाँ तक लायक बना हूँ?

तुम अभी सृष्टि के आदि मध्य अन्त का ज्ञान ले रहे हो। यह राजयोग की नॉलेज सिवाए बाप के कोई सिखला न सके। बच्चे सीखते जाते हैं। बच्चे पूछते हैं हमारे कुल के ब्राह्मण कितने हैं? यह पूरा पता कैसे पड़े। आते जाते रहते हैं। अभी नये-नये भी निकलते रहते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपना दैवी कैरेक्टर बनाना है, दैवी गुण धारण कर अपना और सर्व का कल्याण करना है। सबको सुख देना है।

2) सतोप्रधान बनने के लिए बुद्धि एक बाप से लगानी है। बुद्धि को भटकाना नहीं है। बाप समान टीचर बन सबको सही रास्ता बताना है।

वरदान:- खुशियों के खजाने से सम्पन्न बन दु:खी आत्माओं को खुशी का दान देने वाले पुण्य आत्मा भव
इस समय दुनिया में हर समय का दु:ख है और आपके पास हर समय की खुशी है। तो दु:खी आत्माओं को खुशी देना – यह सबसे बड़े से बड़ा पुण्य है। दुनिया वाले खुशी के लिए कितना समय, सम्पत्ति खर्च करते हैं और आपको सहज अविनाशी खुशी का खजाना मिल गया। अब सिर्फ जो मिला है उसे बांटते जाओ। बांटना माना बढ़ना। जो भी सम्बन्ध में आये वह अनुभव करे कि इनको कोई श्रेष्ठ प्राप्ति हुई है जिसकी खुशी है।
स्लोगन:- अनुभवी आत्मा कभी भी किसी बात से धोखा नहीं खा सकती, वह सदा विजयी रहती है।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

ब्रह्मा बाप समान अपनी स्थिति को अचल अडोल बनाने के लिए किसी भी वातावरण में, वायुमण्डल में रहते हर एक की राय को रिगार्ड दो। कभी किसी की राय सुनते कनफ्यूज़ नहीं होना क्योंकि जो निमित्त बने हैं वह अनुभवी हो चुके हैं। अगर उनका कोई डायरेक्शन स्पष्ट नहीं भी है तो भी हलचल में नहीं आना। धैर्य से कहो इसको समझने की कोशिश करेंगे तब स्थिति एकरस अचल, अडोल रहेगी।

Font Resize