3 october ki murli

TODAY MURLI 3 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 3 October 2020

03/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, after going into 84 motors, the batteries of you souls have become dull. Now charge them fully by staying on the pilgrimage of remembrance.
Question: Which children does Baba consider to be very, very fortunate?
Answer: Baba tells the children who don’t have any complications and who remain free from bondage: You are very, very fortunate children. By staying in remembrance, you can charge your batteries fully. If you simply relate knowledge but you have no yoga, the arrow cannot strike the target. No matter how brilliantly you relate your experience, if you don’t practise what you speak about, your conscience will continue to bite you.

Om shanti. The spiritual Father explains to the sweetest, spiritual children. What is the name of the spiritual Father? Shiv Baba. He is God, the unlimited Father. A human being can never be called the unlimited Father, Ishwar or God. Although many people have the name “Shiva”, they are all bodily beings. This is why they cannot be called God. The Father sits here and explains this to the children. This is the last of the many births of the one whose body I have entered. Many people ask you why you call this one God. From the beginning, the Father has explained that no physical or subtle bodily being can be called God. Subtle bodily beings are residents of the subtle region; they are called deities. The Highest on High is God, the Supreme Father. His name is the highest on high and His place of residence is the highest on high. The Father resides there with all souls. The place where He sits is also the highest. In fact, there is no place to sit there. Do stars sit anywhere? They just stand, do they not? Souls also stand there with their own power. You souls receive such power that you go and stand there. The Father’s name is the Almighty Authority; you receive power from Him. When you souls remember Him, your batteries become charged, just as a motor car has a battery and the car works with the battery. When the battery is charged by a current, the car works. Then the battery gradually becomes discharged. The battery then has to be connected to the mains power to be recharged and is then put back into the motor car again. Those are limited matters. Here, it is an unlimited aspect. Your batteries lasts for 5000 years. Then, gradually, while moving along, it becomes weak. You can tell that it hasn’t completely discharged; it stays a little charged, just as a torch becomes dim. This soul is the battery of this body. This too becomes dull. This battery leaves the body and then goes into a second and a third motor. The soul goes into 84 motors. So, the Father says: You have become ones with such dull heads and stone intellects! Now recharge your batteriesagain. Souls cannot become pure without remembering the Father. It is only with the one Almighty Authority Father that you have to have yoga. The Father Himself gives you His own introduction – what He is like – and He tells you how the batteries of you souls become dull. I am now advising you to remember Me so that your batteries can become satopradhan and firstclass. Souls become 24 carat when they become pure. At the moment, you are mixed with alloy; your strength has completely finished. That beauty is no longer there. The Father now explains to you: Children, the main thing is to stay in yoga and become pure. Otherwise, the batteries will not become charged; you won’t be able to have yoga. There are many who give knowledge like a cockerel. Although they relate knowledge, they don’t have that stage. Here, they relate their experience with a lot of brilliance. Their consciences bite them inside because their stage isn’t equal to what they speak about. There are yogi children too. The Father praises the children a lot. The Father says: Children, you are very, very fortunate. You don’t have many complications. Those who have many children also have a lot of bondage. Baba has so many children. He has to take care of everyone. Baba also has to stay in remembrance. The remembrance of the Beloved should become very firm. On the path of devotion, you were remembering the Father so much: O God! He is the One you worship first. First, it is incorporeal God who is worshipped. It isn’t that you become soul conscious at that time. Those who are soul conscious would not worship anyone. The Father explains: When devotion first begins, it is the one Father who is worshipped first. It is Shiva alone who is worshipped. As are the king and queen, so are the subjects. The Highest on High is God. Only He must be remembered. Everyone below Him, like Brahma, Vishnu and Shankar, don’t need to be remembered. Only the highest-on-high Father has to be remembered. However, the part in the drama is such that you are bound to come down. The Father explains how you come down. The Father explains everything from the beginning to the end and from the top to the bottom. Devotion is also satopradhan at first and it then becomes sato, rajo and tamo. You are now becoming satopradhan once again; it is this that requires effort. You have to become pure. Check yourself to see that Maya is not deceiving you. Do I have criminal eyes? Do I have any thoughts of committing sin? Since Prajapita Brahma is remembered, his children must be Brahmins, brothers and sisters. Worldly brahmins, too, consider themselves to be children of Brahma. You Brahmins are brothers and sisters. So, why do you have vicious vision? You can give very good drishti to the worldly brahmins. You children understand that the children of Brahma now become Brahmins and then deities. It is said that the Father comes and establishes the Brahmin and deity religions. This is something to be understood. You children of Brahma have become brothers and sisters. Therefore, there should be no pull of bad vision. You have to prevent that. This one is my sweet sister. There should be that love. Let the love that there is in a blood connection change into spiritual love. Even though this is called easy remembrance, it does require a lot of effort. Consider yourselves to be souls and remember the Father. You must not have any vision of vice. Baba has explained that your eyes deceive you a lot; they have to be transformed. I am a soul. At this time, we are Shiv Baba’s children. We brothers and sisters have been adopted. We call ourselves Brahma Kumars and Kumaris. There will then be a difference in your behaviour. It is a teacher’s duty to ask everyone in class: Do you think that your vision is that of brothers and sisters or is there some mischief? If someone doesn’t speak the truth in front of the true Father but tells lies, a lot of punishment will be experienced. In a court they have to take the oath to speak the truth in front of God, the Truth. A child of the true Father would also be truthful. The Father is the Truth. He only speaks the truth. All the rest are lies. They call themselves Shri Shri 108. In fact, that is a rosary of beads that is turned. They don’t even know why they turn the beads of a rosary. Christians too have a rosary; Buddhists also have a rosary. All of them turn the beads of their rosaries in their own way. You children have now received knowledge. Tell them: The tassel at the top of the rosary of 108 symbolizes the incorporeal One. Everyone remembers Him. It is by remembering Him that we become queens of heaven, that is, we become empresses. To become Lakshmi or Narayan from an ordinary woman or man is to become the velvet kings and queens of the sun dynasty. Later on, they become cotton ones (less value). Therefore, keep such points in your intellects so that you can explain them to others. Your name will then be glorified. Speak like a lioness. You are the Shiv Shakti Army. There are many types of army. Go to other places and just see what they teach everyone. Hundreds of thousands of people go there. Baba has explained that criminal eyes deceive you a lot. You should speak about your stage. Relate your own experience and how you live at home and how it affects your stage. Keep a diary: For how long do I maintain this stage? The Father explains: Maya becomes very powerful and fights with the powerful ones. This is a battlefield, is it not? Maya is very powerful. Maya means the five vices. Money is called wealth. Those who have a lot of wealth are the ones who become like Ajamil (great sinner). The Father says: First of all, you have to save the prostitutes. They will then create their own association. We want to claim our inheritance from the Father. The Father says: I have come to make you into the masters of the land of Shiva (Shivalaya). This is your last birth. Tell the prostitutes: It was because of you that Bharat lost its honour. The Father has now come to take you to the land of Shiva. According to shrimat we have come to you. You must now become the masters of the world and glorify the name of Bharat like we are doing. We are also becoming pure by remembering the Father. You must stop doing that dirty business for one birth. Have mercy and your name will be glorified a great deal. People will then say: You have such power that you have made them stop doing their dirty business. Everyone has an association. You can also create your own association and take help whatever you want from the Government. Therefore, now serve those who do dirty business and who defame the name of Bharat. Your union also has to be very strong. Ten to 12 of you people can go and explain to them. There should be very good mothers. If a new couple comes, tell them: We remain pure. It is only by becoming pure that you become the masters of the world. So, why should you not remain pure? A whole group of you should go and explain. Say with a lot of humility: We have come to give you the message of the Supreme Father, the Supreme Soul. Destruction is now just ahead. The Father says: I have come to uplift everyone. You mustn’t indulge in vice for this one birth. Tell them: We Brahma Kumars and Kumaris are serving Bharat with our own bodies, minds and wealth. We are not asking for alms. We are the children of God. Make such plans. It isn’t that you can’t help. Do such work that you are praised. Thousands will emerge to help you. Create your own gatherings. Select the main ones. Hold seminars. Many will emerge who can look after the children. Just keep yourself busy doing God’s service. Let your hearts be so generous that you can quickly go and do service. On the one side, do this service and on the other side, do the service of the Gita. Take these things up together as a group. You are studying to become Lakshmi and Narayan. Therefore, you children mustn’t have any conflict of opinions amongst yourselves here. If you hide something from the Father and don’t tell Him the truth, you cause yourself a loss. You will accumulate one hundred-fold more punishment. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. We are the children of the sweet Father. We have to live together as sweet brothers and sisters. Never have any vision of vice. If there is any mischief in your vision, tell the truth to the spiritual Surgeon.
  2. Never have any conflict of opinion amongst yourselves. Be generous hearted and do service with great humility with your body, mind and wealth and give everyone the Father’s message.
Blessing: May you become Maya-proof and give the practical proof of God’s knowledge with your elevated life.
By considering yourself to be a practical example and prove God’s knowledge, you will become Maya-proof. Practical proof is your elevated, pure life. The biggest thing that becomes possible from impossible is living in a household while having an attitude of being beyond, and remaining beyond the awareness of bodies and relations of the physical world. When you see but not see with the eyes of the old body, the things of the old world, it means you are leading a life of total purity. This is the easy way to reveal God and to become Maya-proof.
Slogan: If the guards of attention are working well you cannot lose your treasure of supersensuous joy.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 3 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

03-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – आत्मा रूपी बैटरी 84 मोटरों में जाने के कारण डल हो गई है, अब उसे याद की यात्रा से भरपूर करो”
प्रश्नः- बाबा किन बच्चों को बहुत-बहुत भाग्यशाली समझते हैं?
उत्तर:- जिनके पास कोई झंझट नहीं है, जो निर्बन्धन हैं, ऐसे बच्चों को बाबा कहते तुम बहुत-बहुत भाग्यशाली हो, तुम याद में रहकर अपनी बैटरी फुल चार्ज कर सकते हो। अगर योग नहीं सिर्फ ज्ञान सुनाते तो तीर लग नहीं सकता। भल कोई कितना भी भभके से अपना अनुभव सुनाये लेकिन खुद में धारणा नहीं तो दिल खाता रहेगा।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप समझाते हैं। रूहानी बाप का नाम क्या है? शिवबाबा। वह है ही भगवान, बेहद का बाप। मनुष्य को कभी बेहद का बाप अथवा ईश्वर वा भगवान नहीं कहा जा सकता। नाम भल बहुतों के शिव हैं परन्तु वह सब देहधारी हैं इसलिए उनको भगवान नहीं कहा जा सकता। यह बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। मैंने जिसमें प्रवेश किया है, उनका यह बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है। तुम बच्चों से कई पूछते हैं – तुम इनको भगवान क्यों कहते हो? बाप पहले से ही समझाते हैं – कोई भी स्थूल वा सूक्ष्म देहधारी को भगवान नहीं कह सकते। सूक्ष्म देहधारी सूक्ष्मवतनवासी ही ठहरे। उन्हों को देवता कहा जाता है। ऊंच ते ऊंच है ही भगवान, परमपिता। ऊंच ते ऊंच नाम है, ऊंच उनका गांव। बाप सभी आत्माओं सहित वहाँ निवास करते हैं। बैठक भी ऊंच है। वास्तव में कोई बैठने की जगह नहीं है। जैसे स्टॉर कहाँ बैठे हैं क्या? खड़े हैं ना। तुम आत्मायें भी अपनी ताकत से वहाँ खड़ी हो। ताकत ऐसी मिलती है जो वहाँ जाकर खड़े होते हैं। बाप का नाम ही है सर्वशक्तिमान्, उनसे शक्ति मिलती है। आत्मा उसको याद करती है, बैटरी चार्ज हो जाती है। जैसे मोटर में बैटरी होती है, उसके ज़ोर से ही मोटर चलती है। बैटरी में करेन्ट भरी हुई होती है फिर चलते-चलते वह खाली हो जाती है फिर बैटरी मेन पावर से चार्ज कर मोटर में डालते हैं। वह होती हैं हद की बातें। यह है बेहद की बात। तुम्हारी बैटरी तो 5 हज़ार वर्ष चलती है। चलते-चलते फिर ढीली हो जाती है। मालूम पड़ता है – एकदम खत्म नहीं होती है, कुछ न कुछ रहती है। जैसे टार्च में डिम हो जाती है ना। आत्मा तो है ही इस शरीर की बैटरी। यह भी डल हो जाती है। बैटरी इस शरीर से निकलती भी है फिर दूसरी, तीसरी मोटर में जाकर पड़ती है। 84 मोटरों में उनको डाला जाता है तो अब बाप कहते हैं तुम कितने डलहेड पत्थरबुद्धि बन गये हो। अब फिर अपनी बैटरी को भरो। सिवाए बाप की याद के आत्मा कभी पवित्र हो नहीं सकती। एक ही सर्वशक्तिमान् बाप है, जिनसे योग लगाना है। बाप खुद अपना परिचय देते हैं कि मैं क्या हूँ, कैसा हूँ। कैसे तुम्हारी आत्मा की बैटरी डल हो जाती है। अब तुमको राय देता हूँ मेरे को याद करो तो बैटरी सतोप्रधान फर्स्टक्लास हो जायेगी। पवित्र बनने से आत्मा 24 कैरेट बन जाती है। अभी तुम मुलम्मे के बन गये हो। ताकत बिल्कुल खत्म हो गई है। वह शोभा नहीं रही है। अब बाप तुम बच्चों को समझाते हैं बच्चे मुख्य बात है योग में रहना, पवित्र बनना। नहीं तो बैटरी भरेगी नहीं। योग लगेगा नहीं। भल कुक्कड़ ज्ञानी तो बहुत हैं। ज्ञान भल देते हैं परन्तु वह अवस्था नहीं है। यहाँ बड़े भभके से अनुभव सुनाते हैं। अन्दर खाता रहता है। मैं जो वर्णन करता हूँ ऐसी अवस्था तो है नहीं। कई फिर योगी तू आत्मा बच्चे भी हैं। बाप तो बच्चों की बहुत महिमा करते हैं। बाप कहते हैं – बच्चे, तुम बहुत-बहुत भाग्यशाली हो। तुमको तो इतने झंझट नहीं। जिसको बच्चे जास्ती होते हैं उनको बंधन भी होता है। बाबा को कितने ढेर बच्चे हैं। सबकी सम्भाल देख-रेख करनी पड़ती है। बाबा को भी याद करना है। माशूक की याद तो बिल्कुल पक्की होनी चाहिए। भक्ति मार्ग में तो तुम बाप को कितना याद करते आये हो – हे भगवान, पूजा भी पहले-पहले उनकी करते हो। पहले निराकार भगवान की ही करते हैं। ऐसे नहीं कि उस समय तुम आत्म-अभिमानी बनते हो। आत्म-अभिमानी फिर पूजा थोड़ेही करेंगे।

बाप समझाते हैं पहले-पहले भक्ति शुरू होती है तो पहले एक बाप की पूजा करते हैं। एक ही शिव की पूजा करते हैं। यथा राजा-रानी तथा प्रजा। ऊंच ते ऊंच है ही भगवान, उनको ही याद करना है। दूसरे जो भी सब नीचे हैं – ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को भी याद करने की दरकार नहीं है। ऊंच ते ऊंच बाप को ही याद करना है। परन्तु ड्रामा का पार्ट ऐसा है जो तुम नीचे उतरने के लिए बांधे हुए हो। बाप समझाते हैं तुम कैसे नीचे उतरते हो। हर बात आदि से अन्त तक ऊपर से नीचे तक बाप समझाते हैं। भक्ति भी पहले सतोप्रधान फिर सतो-रजो-तमो होती है। अभी तुम फिर सतोप्रधान बन रहे हो, इसमें ही मेहनत है। पवित्र बनना है। अपने को देखना है, माया कहाँ धोखा तो नहीं देती है? मेरी क्रिमिनल आई तो नहीं बनती है? कोई पाप का ख्याल तो नहीं आता है? गायन है प्रजापिता ब्रह्मा तो उनकी सन्तान ब्राह्मण-ब्राह्मणियां बहन-भाई ठहरे ना। यहाँ के ब्राह्मण लोग भी अपने को ब्रह्मा की औलाद कहलाते हैं। तुम भी ब्राह्मण भाई-बहन हुए ना। फिर विकारी दृष्टि क्यों रखते हो। ब्राह्मणों को तुम अच्छी रीति दृष्टि दे सकते हो। अभी तुम बच्चे ही जानते हो ब्रह्मा की सन्तान ब्राह्मण-ब्राह्मणी बनकर फिर देवता बनते हैं। कहते भी हैं बाप आकर ब्राह्मण देवी-देवता धर्म की स्थापना करते हैं। यह समझ की बात है ना। हम ब्रह्मा की सन्तान भाई-बहन हो गये तो कुदृष्टि कभी नहीं जानी चाहिए। उनको रोकना है। यह भी हमारी मीठी बहन है। वह लव रहना चाहिए। जैसे ब्लड कनेक्शन में लव रहता है, वह बदलकर रूहानी बन जाए। इसमें बहुत-बहुत मेहनत है। है भी सहज याद। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। विकार की दृष्टि नहीं रख सकते। बाबा ने समझाया है – यह आंखें बहुत धोखा देने वाली हैं, उनको बदलना है। हम आत्मा हैं। अभी तो हम शिवबाबा के बच्चे हैं। एडाप्ट किये हुए भाई-बहन हैं। हम अपने को बी.के. कहलाते हैं। चलन में फ़र्क तो रहता है ना। टीचर्स का काम है क्लास में सबसे पूछना – तुम समझते हो हमारी भाई-बहन की दृष्टि रहती है या कुछ चंचलता चलती है? सच्चे बाप के आगे सच न बताया, झूठ बोला तो बहुत दण्ड पड़ जायेगा। कोर्ट में कसम उठाते हैं ना। सच्चे ईश्वर बाप के आगे सच कहेंगे। सच्चे बाप का बच्चा भी सच्चा होगा। बाप ट्रूथ है ना। वह सत्य ही बतलाते हैं। बाकी सब हैं गपोड़े। श्री श्री 108 अपने को कहलाते हैं, वास्तव में यह तो माला है ना, जो सिमरते हैं। यह भी जानते नहीं कि हम क्यों सिमरते हैं। बौद्धियों की भी माला, क्रिश्चियन की भी माला होती है। हर एक अपने ढंग से माला फेरते हैं। तुम बच्चों को अब ज्ञान मिला हुआ है। बोलो, 108 की जो माला है उसमें ऊपर में फूल तो है निराकार। उनको ही सब याद करते हैं। उनकी याद से ही हम स्वर्ग की पटरानी अर्थात् महारानी बनते हैं। नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनना – यह है सूर्यवंशी मखमल की पटरानी बनना फिर खादी की हो जाती है। तो ऐसी-ऐसी प्वाइंट्स बुद्धि में रख फिर समझाना चाहिए। फिर तुम्हारा नाम बहुत बाला हो जायेगा। बात करने में शेरनी बनो। तुम शिव शक्ति सेना हो ना। अनेक प्रकार की सेनायें हैं ना। वहाँ भी तुम जाकर देखो क्या सिखलाते हैं। लाखों मनुष्य जाते हैं। बाबा ने समझाया है – क्रिमिनल आई बहुत धोखा देने वाली है। अपनी अवस्था का वर्णन करना चाहिए। अनुभव सुनाना चाहिए – हम घर में कैसे रहते हैं? अवस्था पर क्या असर पड़ता है? डायरी रखो – कितना समय इस अवस्था में रहता हूँ? बाप समझाते हैं रूसतम से माया भी रूसतम होकर लड़ती है। युद्ध का मैदान है ना। माया बड़ी बलवान है। माया अर्थात् 5 विकार। धन को सम्पत्ति कहा जाता है, जिसके पास जास्ती सम्पत्ति होती है, अजामिल भी जास्ती वह बनते हैं।

बाप कहते हैं – पहले-पहले तुम वेश्याओं को तो बचाओ। तो वह फिर अपनी एसोसिएशन बनायेंगी। हमको तो बाप से वर्सा लेना है। बाप कहते हैं मैं तुमको शिवालय का मालिक बनाने आया हूँ। यह अन्तिम जन्म है। वेश्याओं को समझाना चाहिए – तुम्हारे नाम के कारण भारत की इतनी आबरू (इज्जत) गई है। अब बाप आये हैं शिवालय में ले चलने। हम श्रीमत पर आये हैं तुम्हारे पास। अभी तुम विश्व की मालिक बन जाओ। भारत का नाम बाला करो, हमारे मुआफिक। हम भी बाप को याद करने से पवित्र बन रहे हैं। तुम भी यह एक जन्म छी-छी काम छोड़ दो। रहम तो करना है ना। फिर तुम्हारा नाम बाला बहुत हो जायेगा। कहेंगे इनमें तो ऐसी ताकत है जो ऐसा गन्दा धंधा इनसे छुड़ा दिया। सबकी एसोसिएशन है। तुम अपनी एसोसिएशन बनाकर गवर्मेंन्ट से जो मदद चाहे ले सकती हो। तो अब ऐसे छी-छी जिन्होंने भारत का नाम बदनाम किया है, उन्हों की सेवा करो। तुम्हारी भी युनियन बहुत पक्की चाहिए। जो 10-12 आपस में मिलकर जाए समझायें। मातायें भी अच्छी हों। कोई नया युगल हो, बोले हम पवित्र रहते हैं। पवित्र रहने से ही विश्व के मालिक बनते हैं। तो क्यों नहीं पवित्र बनेंगे। सारा झुण्ड का झुण्ड जाये। बड़ी नम्रता से जाकर कहना है, हम आपको परमपिता परमात्मा का पैगाम देने आये हैं। अब विनाश सामने खड़ा है। बाप कहते हैं मैं सबका उद्धार करने आया हूँ। तुम भी यह एक जन्म विकार में मत जाओ। तुम समझा सकते हो हम ब्रह्माकुमार-कुमारियां अपने ही तन-मन-धन से सर्विस करते हैं। हम भीख तो मांगते नहीं। ईश्वर के बच्चे हैं। ऐसे-ऐसे प्लैन बनाओ। ऐसे नहीं कि तुम मदद नहीं कर सकते हो। ऐसा काम करो जिसमें वाह-वाह हो। हज़ारों मदद देने वाले निकल आयेंगे। यह अपना संगठन बनाओ। मुख्य-मुख्य को चुनो, सेमीनार करो। बच्चों को सम्भालने वाले तो बहुत निकल सकते हैं। तुम ईश्वरीय सर्विस में लग जाओ। ऐसी फ्राकदिल होनी चाहिए जो झट सर्विस पर निकल पड़े। एक तरफ यह सर्विस और दूसरी बात गीता की, इन बातों को मिलकर उठाओ। तुम पढ़ते ही हो यह लक्ष्मी-नारायण बनने के लिए। तो यहाँ तुम बच्चों का आपस में मतभेद नहीं रहना चाहिए। अगर कोई बात बाप से छिपाते हो, सच नहीं बताते हो तो भी अपना ही नुकसान करते हो और ही सौगुणा पाप चढ़ जाता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हम मीठे बाप के बच्चे हैं, आपस में मीठे बहन-भाई होकर रहना है। कभी भी विकार की दृष्टि नहीं रखनी है। दृष्टि में कोई भी चंचलता हो तो रूहानी सर्जन को सच बताना है।

2) कभी भी आपस में मतभेद में नहीं आना है। फ्राकदिल बन सर्विस करनी है। अपने तन-मन धन से, बहुत-बहुत नम्रता से सेवा कर सबको बाप का परिचय (पैगाम) देना है।

वरदान:- अपने श्रेष्ठ जीवन द्वारा परमात्म ज्ञान का प्रत्यक्ष प्रूफ देने वाले माया प्रूफ भव
स्वयं को परमात्म ज्ञान का प्रत्यक्ष प्रमाण वा प्रूफ समझने से माया प्रूफ बन जायेंगे। प्रत्यक्ष प्रूफ है – आपकी श्रेष्ठ पवित्र जीवन। सबसे बड़ी असम्भव से सम्भव होने वाली बात प्रवृत्ति में रहते पर-वृत्ति में रहना। देह और देह की दुनिया के संबंधों से पर (न्यारा) रहना। पुराने शरीर की आंखों से पुरानी दुनिया की वस्तुओं को देखते हुए न देखना अर्थात् सम्पूर्ण पवित्र जीवन में चलना – यही परमात्मा को प्रत्यक्ष करने वा माया प्रूफ बनने का सहज साधन है।
स्लोगन:- अटेन्शन रूपी पहरेदार ठीक हैं तो अतीन्द्रिय सुख का खजाना खो नहीं सकता।

TODAY MURLI 3 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 3 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 2 October 2019:- Click Here

03/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have personally come in front of the Mother and Father to receive limitless happiness. The Father removes you from immense sorrow and takes you into immense happiness.
Question: Only the one Father stays in reserve and doesn’t take rebirth. Why?
Answer: Because there has to be someone who can make you satopradhan from tamopradhan. If the Father too were to take rebirth, who would make you beautiful from ugly? This is why the Father stays in reserve.
Question: Why are deities always happy?
Answer: Because they are pure. Because of their purity, their activities were reformed. Where there is purity, there is peace and happiness. The main thing is purity.

Om shanti. The spiritual Father explains to you sweetest, long-lost and now-found, children. He is the Father and also the Mother and Father. You used to sing: You are the Mother and Father and we are Your children. Everyone continues to call out. Whom do they call out to? To the Supreme Father, the Supreme Soul. However, they don’t understand which immense happiness they received through His mercy or when they received it. They don’t even understand what that immense happiness refers to. You are now sitting here in front of Him and you know how much immense sorrow there is. This is the land of sorrow whereas that is the land of happiness. It doesn’t enter anyone’s intellect that they were very happy for 21 births when they were in heaven. You did not experience this previously. You now understand that you are sitting in front of that Supreme Father, the Supreme Soul, the Mother and Father. You know that you come here to claim the sovereignty of heaven for 21 births. You now know the Father and you have also come to understand the whole world cycle from the Father. Previously, we had immense happiness and then we had sorrow. This remains in the intellect of each one of you, numberwise. You students should always remember this, but Baba sees that you repeatedly forget this and that this is why you wilt. Your stage becomes like that of a “touch-me-not” plant. Maya attacks you. You no longer have the happiness that you should have. The status is numberwise. You all go to heaven, but there, too, they range from kings to paupers; there are poor people and wealthy people there too. It is like that in heaven and also in hell; there are the highest and the lowest. Now, you children know that you are making effort to claim immense happiness. Lakshmi and Narayan had immense happiness. The main aspect is purity. Unless you have purity, you cannot receive peace or prosperity. Very good behaviour is needed for this. The behaviour of people is reformed by their purity. When people are pure they are called deities. You have come here to become deities. Deities are always happy. Human beings cannot remain happy all the time. It is the deities who have happiness. You used to worship those deities because they were pure. Everything depends on purity. It is in this that there are obstacles. People want there to be peace in the world. Baba says: Without purity, there can never be peace. The first and main aspect is purity. Only by having purity is one’s behaviour reformed. By becoming impure, one’s behaviour is spoilt. You have to understand that, if you want to become deities once again, purity is definitely needed. Deities are pure and this is why impure human beings bow down to them. The main thing is purity. People call out: O Purifier, come and purify us! The Father says: Lust is the greatest enemy. Conquer it. Only by conquering it will you become pure. When you were pure and satopradhan, there was peace and happiness. You children have now remembered that this is a matter of only yesterday. When you were pure, there was immense happiness and peace and you had everything. You now have to become Lakshmi and Narayan again. The first and main thing in this is to become completely viceless. This is remembered. This is the sacrificial fire of knowledge. There will definitely be obstacles in this. People cause so much trouble because of purity. “The devilish community” and “the divine community” are remembered. It is in your intellects that, in the golden age, they were deities. Although their faces are of human beings, they are called deities. There, they are completely satopradhan. There are no defects there. Everything is perfect there. The Father is perfect and so He also makes you children perfect. You become so pure and beautiful with the power of yoga. That Traveller who comes and makes you beautiful from ugly is everbeautiful. There is natural beauty there; there is no need to make anyone beautiful. Those who are satopradhan and beautiful then become ugly when they become tamopradhan. The very name is Shyam-Sundar (the ugly and beautiful one). Why is Krishna called Shyam-Sundar? No one, except the Father, can tell you the meaning of this. No human being can tell you the things that God, the Father, tells you. In the pictures, they have shown deities with the discus of self-realisation. The Father explains: Sweetest children, deities have no need for the discus of self-realisation. What would they do with the conch shell etc? You Brahmin children are the spinners of the discus of self-realisation. You are the ones who have to blow the conch shell. You know how peace is now being established in the world. Together with that, your activity also has to be good. On the path of devotion too, you used to go in front of the idols of the deities and speak about your own behaviour. However, the deities do not reform your behaviour. The One who reforms it is someone else. That Shiv Baba is incorporeal. You would not say to Him: You are full of all virtues. The praise of Shiva is separate. People sing praise of the deities, but how can we become like them? It is souls that become pure and impure. You souls are now becoming pure. When you souls become perfect, those impure bodies will not remain; you will then go and take pure bodies. There cannot be any pure bodies here. There can only be pure bodies when even the elements are satopradhan. In the new world, everything is satopradhan. At this time, the five elements are tamopradhan and this is why there continues to be so many calamities. Look how people continue to die! People go on pilgrimages etc. and if an accident takes place, they die. The water, earth etc. cause so much damage. All of these elements are helping you. When there are sudden floods and storms during destruction, those are natural calamities. The bombs that people manufacture are also fixed in the drama. They cannot be called Godly calamities; they are created by human beings. Earthquakes etc. are not caused by human beings. All of those calamities get together and create lightness for the earth. You know how Baba makes you completely light and takes you with Him to the new world. When your head becomes light, you become very alert. Baba makes you completely light. All your sorrow is removed. All of you now have very heavy heads, and then all of you will become light, peaceful and happy. Whatever religion anyone belongs to, everyone should be happy that Baba has come to grant everyone salvation. When establishment is accomplished, all the religions will be destroyed. Previously, your intellects did not have these thoughts. You now understand. It is remembered that establishment took place through Brahma and that all the innumerable religions were destroyed. Only the one Father carries out this task. No one, other than Shiv Baba, can do it. No one can have such an alokik birth or alokik task. The Father is the Highest on High and so His task is also very high. He is Karankaravanhar (the One who acts and inspires others to act). You relate the knowledge that the Father has come to remove from this world the burden created by sinful souls. It is remembered that the Father comes to establish the one religion and to destroy the innumerable religions. You are now being made into such great souls. No one else, apart from the deities, can be great souls. Here, they call many people mahatmas (great souls). However, only elevated souls are called mahatmas. Heaven is called the kingdom of Rama. There is no kingdom of Ravan there, and so the question of vice cannot arise there. This is why that is called the completely viceless world. The more full you become, the more happiness you receive for a long time. Those who are imperfect cannot receive as much happiness. In school too, some are perfect and some are imperfect; the difference is visible. A doctor means a doctor, but some have a very small income whereas others have a big income. In the same way, deities are deities, but there is so much difference in their status! The Father comes and teaches you this elevated study. Krishna can never be called God. Krishna is called Shyam-Sundar. They even show an ugly Krishna, but Krishna cannot be ugly. His name and form change. When the soul becomes ugly, he has a different name, form, place and time. Everything is explained to you and so you now understand how you entered your parts from the beginning. At first, you were deities and then, from deities, you became devils. The Father has also explained to you the significance of 84 births which no one else knows about. The Father Himself comes and explains all the secrets to you. The Father says: My beloved children, you used to reside with Me in the home. You were brothers. All were souls; there were no bodies. There was the Father and you brothers. There was no other relationship. The Father doesn’t take rebirth. He remains in reserve according to the drama. Such is His part. The Father has also told you for how long you have been calling out. It isn’t that you began calling out to Him from the copper age; no. You began to call out to Him a long time after that. The Father makes you happy, that is, the Father gives you the inheritance of happiness. You say: Baba, we have come to you every cycle, many times. This cycle continues to turn. Baba, we meet You every 5000 years and we receive this inheritance. All of you students are bodily beings whereas the One who is teaching you is bodiless. This body does not belong to Him. He Himself is bodiless; He comes here and adopts a body. How could He teach you children without a body? He is the Father of all spirits. On the path of devotion, everyone calls out to Him, and they truly rotate a rosary of Rudra. At the top is the flower (the tassel) and then there is the dual-bead. They are both similar. You now understand why people salute the flower first, then also those whose rosary you rotate. Do people rotate a rosary of the deities or of you? Is a rosary of the deities or of you? It cannot be said to be of the deities. It is of the Brahmins whom the Father sits and teaches. From Brahmins, you then become deities. You are now studying and you will attain the deity status when you go there. The rosary is of you Brahmins; it is of you, who study with the Father, who make effort and become deities. The greatness is of the One who teaches you. The Father has served you children so much. There, no one even remembers the Father. On the path of devotion, you used to rotate a rosary. That flower has now come and is making you into flowers, that is, He is making you into the beads of His rosary. You are becoming beautiful. You now receive the knowledge of souls. You have the knowledge of the beginning, middle and end of the whole world in your intellects. There is praise of only you. You Brahmins sit here and make others into Brahmins, like yourselves, and then make them into deities, residents of heaven. Deities reside in heaven. When you become deities, you won’t have the knowledge of the past, present and future there. You Brahmin children now receive the knowledge of the past, present and future. No one else receives this knowledge. You are very, very fortunate but Maya then makes you forget. This Baba is not teaching you; he too is a human being and is studying. This one was the last one. The number oneimpureone then becomes number one pure. He becomes so happy. Your aim and objective is in front of you. The Father is making you so elevated. May you have a long life! May you have a son! This too is fixed in the drama. The Father says: If I were to give these blessings, I would have to continue to give them to everyone. I come here to teach you children. You receive all blessings by studying. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Just as the Father is perfect, so make yourself perfect in the same way. Imbibe purity and reform your behaviour. Experience true peace and happiness.
  2. Whilst keeping the knowledge of the beginning, middle and end of the world in your intellect, do the service of making people into Brahmins and then into deities. Never forget your elevated fortune.
Blessing: May you be one who has unlimited disinterest and who remains loving and detached like a lotus flower while staying in a household with facilities.
You have been given facilities and so use them with a big heart. These facilities are for you to use but do not allow your spiritual endeavour to become merged. Let there be a complete balance. The facilities are not bad; they are the fruit of your karma and yoga. However, while staying in a household with facilities, be detached like a lotus and loving to the Father. While using them, do not be influenced by them. Let your attitude of unlimited disinterest not become merged in the facilities. First of all let this emerge in yourself and then spread it into the atmosphere.
Slogan: To enable someone who is distressed to stabilise in his spiritual honour is the best service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 3 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 October 2019

To Read Murli 2 October 2019:- Click Here
03-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम मात-पिता के सम्मुख आये हो, अपार सुख पाने, बाप तुम्हें घनेरे दु:खों से निकाल घनेरे सुखों में ले जाते हैं”
प्रश्नः- एक बाप ही रिजर्व में रहते, पुनर्जन्म नहीं लेते हैं – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि कोई तो तुम्हें तमोप्रधान से सतोप्रधान बनाने वाला चाहिए। अगर बाप भी पुनर्जन्म में आये तो तुमको काले से गोरा कौन बनाये इसलिए बाप रिजर्व में रहता है।
प्रश्नः- देवतायें सदा सुखी क्यों हैं?
उत्तर:- क्योंकि पवित्र हैं, पवित्रता के कारण उनकी चलन सुधरी हुई है। जहाँ पवित्रता है वहाँ सुख-शान्ति है। मुख्य है पवित्रता।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति रूहानी बाप समझाते हैं। वह बाप भी है, मात-पिता भी है। तुम गाते थे ना – तुम मात-पिता हम बालक तेरे…… सब पुकारते रहते हैं। किसको पुकारते हैं? परमपिता परमात्मा को। बाकी उनको समझ में नहीं आता कि उनकी कृपा से सुख घनेरे कौन-से और कब मिले? सुख घनेरे किसको कहा जाता है, वह भी नहीं समझते। अभी तुम यहाँ सामने बैठे हो, जानते हो यहाँ कितने दु:ख घनेरे हैं। यह है दु:खधाम। वह है सुखधाम। किसकी बुद्धि में नहीं आता है कि हम 21 जन्म स्वर्ग में बहुत सुखी रहते हैं। तुमको भी पहले यह अनुभव नहीं था। अभी तुम समझते हो हम उस परमपिता परमात्मा, मात-पिता के सामने बैठे हैं। जानते हो हम 21 जन्मों के लिए स्वर्ग की बादशाही प्राप्त करने के लिए ही यहाँ आते हैं। बाप को भी जान लिया और बाप द्वारा सारे सृष्टि चक्र को भी समझ लिया है। हम पहले घनेरे सुख में थे फिर दु:ख में आये, यह भी नम्बरवार हर एक की बुद्धि में रहता है। स्टूडेन्ट को तो सदैव याद रहना चाहिए परन्तु बाबा देखते हैं घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं इसलिए फिर मुरझा जाते हैं। छुई मुई अवस्था हो जाती है। माया वार कर लेती है। वह जो खुशी होनी चाहिए, वह नहीं रहती। नम्बरवार पद तो है ना। स्वर्ग में तो जाते हैं परन्तु वहाँ भी राजा से लेकर रंक तक रहते हैं ना। वह गरीब प्रजा, वह साहूकार। स्वर्ग में भी ऐसे हैं तो नर्क में भी ऐसे हैं। ऊंच और नीच। अभी तुम बच्चे जानते हो हम पुरूषार्थ करते हैं – सुख घनेरे पाने के लिए। इन लक्ष्मी-नारायण को सबसे जास्ती सुख घनेरे हैं ना। मुख्य है पवित्रता की बात। पवित्रता के सिवाए पीस और प्रासपर्टी मिल नहीं सकती। इसमें चलन बहुत अच्छी चाहिए। मनुष्य की चलन सुधरती है पवित्रता से। पवित्र हैं तो उनको देवता कहा जाता है। तुम यहाँ आये हो देवता बनने के लिए। देवतायें सदा सुखी थे। मनुष्य कोई सदा सुखी हो न सके। सुख होता ही है देवताओं को। इन देवताओं की ही तुम पूजा करते थे ना क्योंकि पवित्र थे। सारा मदार है पवित्रता पर। विघ्न भी इसमें ही पड़ते हैं। चाहते हैं दुनिया में पीस हो। बाबा कहते हैं सिवाए पवित्रता के शान्ति कभी हो न सके। पहली-पहली मुख्य है ही पवित्रता की बात। पवित्रता से ही सुधरी हुई चलन होती है। पतित होने से फिर चलन बिगड़ती है। समझना चाहिए अब हमको फिर से देवता बनना है तो पवित्रता जरूर चाहिए। देवतायें पवित्र हैं तब तो अपवित्र मनुष्य उनके आगे माथा टेकते हैं। मुख्य बात है पवित्रता की। पुकारते भी ऐसे हैं हे पतित-पावन आकर हमको पावन बनाओ। बाप कहते हैं काम महा-शत्रु है, इन पर जीत पहनो। इन पर जीत पाने से ही तुम पवित्र बनेंगे। तुम जब पवित्र सतोप्रधान थे तो शान्ति थी, सुख भी था। तुम बच्चों को अब याद आई है, कल की तो बात है। तुम पवित्र थे तो अथाह सुख-शान्ति सब कुछ था। अब फिर तुमको यह लक्ष्मी-नारायण बनना है, इसमें पहली मुख्य बात है सम्पूर्ण निर्विकारी बनना। यह तो गायन है, यह है ज्ञान यज्ञ, इसमें विघ्न तो जरूर पड़ेंगे। पवित्रता के ऊपर कितना तंग करते हैं। आसुरी सम्प्रदाय और दैवी सम्प्रदाय भी गाई हुई है। तुम्हारी बुद्धि में है सतयुग में यह देवता थे। भल सूरत तो मनुष्यों की है परन्तु उन्हों को देवता कहा जाता है। वहाँ हैं सम्पूर्ण सतोप्रधान। कोई भी खामी वहाँ होती नहीं। हर चीज़ परफेक्ट होती है। बाप परफेक्ट है तो बच्चों को भी परफेक्ट बनाते हैं। योगबल से तुम कितने पवित्र, ब्युटीफुल बनते हो। यह मुसाफिर तो एवर गोरा है, जो तुमको सांवरे से आकर गोरा बनाते हैं। वहाँ नैचुरल ब्युटी होती है। खूबसूरत बनाने की दरकार नहीं रहती। सतोप्रधान होते ही हैं खूबसूरत। वही फिर तमोप्रधान होने से काले हो पड़ते हैं। नाम ही है श्याम और सुन्दर। कृष्ण को श्याम और सुन्दर क्यों कहते हैं? इसका अर्थ कभी कोई बता न सके, सिवाए बाप के। भगवान बाप जो बातें सुनाते हैं वह और कोई मनुष्य सुना नहीं सकेंगे। चित्रों में स्वदर्शन चक्र देवताओं को दे दिया है।

बाप समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, स्वदर्शन चक्र की तो देवताओं को दरकार नहीं। वह क्या करेंगे शंख आदि। स्वदर्शन चक्रधारी तुम ब्राह्मण बच्चे हो। शंखध्वनि भी तुमको करनी है। तुम जानते हो अब विश्व में कैसे शान्ति स्थापन हो रही है। साथ में चलन भी अच्छी चाहिए। भक्ति मार्ग में भी तुम देवताओं के आगे जाकर अपनी चलन का वर्णन करते हो ना। परन्तु देवतायें कोई तुम्हारी चलन को सुधारते नहीं हैं। सुधारने वाला और है। वह शिवबाबा तो है निराकार। उनके आगे ऐसे नहीं कहेंगे कि आप सर्वगुण सम्पन्न हो……. शिव की महिमा ही अलग है। देवताओं की महिमा गाते हैं। परन्तु हम ऐसे कैसे बनें। आत्मा ही पवित्र और अपवित्र बनती है ना। अब तुम्हारी आत्मा पवित्र बन रही है। जब आत्मा सम्पूर्ण बन जायेगी तो फिर यह शरीर पतित नहीं रहेगा फिर जाकर पावन शरीर लेंगे। यहाँ तो पावन शरीर हो न सके। पावन शरीर तब हो जब प्रकृति भी सतोप्रधान हो। नई दुनिया में हर एक चीज़ सतोप्रधान होती है। अभी 5 तत्व तमोप्रधान हैं इसलिए कितने उपद्रव होते रहते हैं। कैसे मनुष्य मरते रहते हैं। तीर्थ यात्रा पर जाते हैं, कोई एक्सीडेंट हुआ मर पड़ते। जल, पृथ्वी आदि कितना नुकसान करते हैं। यह सब तत्व तुमको मदद करते हैं। विनाश में अचानक बाढ़ आ जाती, तूफान लगते – यह है नैचुरल आपदायें। वह बॉम्ब्स आदि जो बनाते हैं, वह भी ड्रामा में नूँध है। उनको ईश्वरीय आपदायें नहीं कहेंगे। वह तो मनुष्यों के बनाये हुए हैं। अर्थ-क्वेक आदि कोई मनुष्यों के बनाये हुए नहीं हैं। यह आपदायें सब आपस में मिलती हैं, पृथ्वी से हल्काई होती है। तुम जानते हो कैसे बाबा हमको एकदम हल्का बनाकर साथ ले जाते हैं नई दुनिया में। माथा हल्का होने से फिर चुस्त हो जाते हैं ना। तुमको बाबा बिल्कुल हल्का कर देते हैं। सब दु:ख दूर हो जाते हैं। अभी तुम सबका माथा बहुत भारी है फिर सब हल्के, शान्त, सुखी हो जायेंगे। जो जिस धर्म वाले हैं, सबको खुशी होनी चाहिए, बाबा आया हुआ है, सबकी सद्गति करने। जब पूरी स्थापना हो जाती है तब फिर सब धर्म विनाश हो जाते हैं। आगे तुम्हारी बुद्धि में यह ख्याल भी नहीं था। अभी समझते हो, गायन भी है ब्रह्मा द्वारा स्थापना। बाकी अनेक धर्म सब विनाश। यह कर्तव्य एक बाप ही करते हैं, दूसरा कोई कर न सके। सिवाए एक शिवबाबा के। ऐसा अलौकिक जन्म और अलौकिक कर्तव्य किसका हो न सके। बाप है ऊंच ते ऊंच। तो उनका कर्तव्य भी बहुत ऊंच है। करनकरा-वनहार है ना। तुम नॉलेज सुनाते हो बाप आया हुआ है, इस सृष्टि से पाप आत्माओं का बोझ उतारने के लिए। यह तो गायन भी है ना – बाप आते हैं एक धर्म की स्थापना और अनेक धर्मों का विनाश करने। तुमको अब कितना ऊंच महात्मा बना रहे हैं। महात्मा देवता बिगर कोई होता नहीं। यहाँ तो अनेकों को महात्मा कहते रहते हैं। परन्तु महात्मा कहा जाता है महान आत्मा को। रामराज्य कहा ही जाता है स्वर्ग को। वहाँ रावण राज्य ही नहीं, तो विकार का सवाल भी नहीं उठ सकता इसलिए उसको कहा जाता है सम्पूर्ण निर्विकारी। जितना सम्पूर्ण बनेंगे उतना बहुत समय सुख पायेंगे। अपूर्ण तो इतना सुख पा न सकें। स्कूल में भी कोई सम्पूर्ण, कोई अपूर्ण होते हैं। फर्क दिखाई पड़ता है। डॉक्टर माना डॉक्टर। परन्तु कोई की पगार बहुत कम, कोई की बहुत जास्ती। वैसे ही देवतायें तो देवतायें होते हैं परन्तु मर्तबे का फर्क कितना पड़ जाता है। बाप आकर तुमको ऊंच पढ़ाई पढ़ाते हैं। कृष्ण को कभी भगवान नहीं कह सकते। कृष्ण को ही कहते हैं श्याम सुन्दर। सांवरा कृष्ण भी दिखाते हैं। कृष्ण सांवरा थोड़ेही होता है। नाम रूप तो बदल जाता है ना। सो भी आत्मा सांवरी बनती है, भिन्न नाम, रूप, देश, काल। अभी तुमको समझाया जाता है, तुम समझते हो बरोबर हम शुरू से लेकर कैसे पार्ट में आये हैं। पहले देवता थे फिर देवता से असुर बनें। बाप ने 84 जन्मों का राज़ भी समझाया है, जिसका और कोई को पता नहीं है। बाप ही आकर सब राज़ समझाते हैं। बाप कहते हैं – मेरे लाडले बच्चे, तुम हमारे साथ घर में रहते थे ना। तुम भाई-भाई थे ना। सब आत्मायें थी, शरीर नहीं था। बाप था और तुम भाई-भाई थे। और कोई सम्बन्ध नहीं था। बाप तो पुनर्जन्म में आते नहीं। वह तो ड्रामा अनुसार रिजर्व रहते हैं। उनका पार्ट ही ऐसा है। तुमने कितना समय पुकारा है, वह भी बाप ने बताया है। ऐसे नहीं, द्वापर से पुकारना शुरू किया है। नहीं, बहुत समय के बाद तुमने पुकारना शुरू किया है। तुमको तो बाप सुखी बनाते हैं अर्थात् सुख का वर्सा बाप दे रहे हैं। तुम भी कहते हो बाबा हम आपके पास कल्प-कल्प अनेक बार आये हैं। यह चक्र चलता ही रहता है। हर 5 हजार वर्ष के बाद बाबा आपसे मिलते हैं और यह वर्सा पाते हैं। जो भी सब देहधारी हैं सब स्टूडेन्ट हैं, पढ़ाने वाला है विदेही। यह उनकी देह नहीं है। खुद विदेही है, यहाँ आकर देह धारण करते हैं। देह बिगर बच्चों को पढ़ावे कैसे। सभी रूहों का वह बाप है। भक्ति मार्ग में सब उनको पुकारते हैं, बरोबर रूद्र माला सिमरते हैं। ऊपर में है फूल और युगल मेरू। वह तो एक जैसे ही हैं। फूल को क्यों नमस्कार करते हैं, यह भी अभी तुमको पता पड़ा है कि माला किसकी फेरते हैं। देवताओं की माला फेरते हैं या तुम्हारी फेरते हैं? माला देवताओं की है या तुम्हारी है? देवताओं की नहीं कहेंगे। यह ब्राह्मण ही हैं जिनको बाप बैठ पढ़ाते हैं। ब्राह्मण से फिर तुम देवता बन जाते हो। अभी पढ़ते हो फिर वहाँ जाकर देवता पद पाते हो। माला तुम ब्राह्मणों की है, जो तुम बाप द्वारा पढ़कर, मेहनत कर फिर देवता बन जाते हो। बलिहारी पढ़ाने वाले की। बाप ने बच्चों की कितनी सेवा की है। वहाँ तो कोई बाप को याद भी नहीं करते हैं। भक्ति मार्ग में तुम माला फेरते थे। अभी वह फूल आकर तुमको भी फूल बनाते हैं अर्थात् अपनी माला का दाना बनाते हैं। तुम गुल-गुल बनते हो ना। आत्मा का ज्ञान भी अभी तुमको मिलता है। सारे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान तुम्हारी बुद्धि में है। तुम्हारी ही महिमा है। तुम ब्राह्मण बैठ आप समान ब्राह्मण बनाकर फिर स्वर्गवासी देवी-देवता बनाते हो। देवतायें स्वर्ग में रहते हैं। तुम जब देवता बन जाते हो वहाँ तुमको पास्ट, प्रेजेन्ट, फ्युचर की नॉलेज नहीं होगी।

अभी तुम ब्राह्मण बच्चों को ही पास्ट, प्रेजेन्ट, फ्युचर का ज्ञान मिलता है, और कोई को भी ज्ञान नहीं मिलता। तुम बहुत-बहुत भाग्यशाली हो। परन्तु माया फिर भुला देती है। तुमको कोई यह बाबा नहीं पढ़ाते हैं। यह तो मनुष्य हैं, यह भी पढ़ रहे हैं। यह तो सबसे लास्ट में था। सबसे नम्बरवन पतित वही फिर नम्बरवन पावन बनते हैं। कितना सुखी होते हैं। एम आबजेक्ट सामने खड़ी है। बाप तुमको कितना ऊंच बनाते हैं। आयुश्वान भव, पुत्रवान भव….. यह भी ड्रामा में नूँध है। बाप कहते हैं मैं अगर आशीर्वाद दूँ फिर तो सबको देता रहूँ। मैं तो तुम बच्चों को पढ़ाने आता हूँ। पढ़ाई से ही तुम्हें सब आशीर्वादें मिल जाती हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जैसे बाप परफेक्ट है – ऐसे स्वयं को परफेक्ट बनाना है। पवित्रता को धारण कर अपनी चलन सुधारनी है, सच्चे सुख-शान्ति का अनुभव करना है।

2) सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान बुद्धि में रख ब्राह्मण सो देवता बनाने की सेवा करनी है। अपने ऊंचे भाग्य को कभी भूलना नहीं है।

वरदान:- साधनों की प्रवृत्ति में रहते कमल फूल समान न्यारे और प्यारे रहने वाले बेहद के वैरागी भव
साधन मिले हैं तो उन्हें बड़े दिल से यूज़ करो, यह साधन हैं ही आपके लिए, लेकिन साधना को मर्ज नहीं करो। पूरा बैलेन्स हो। साधन बुरे नहीं हैं, साधन तो आपके कर्म का, योग का फल हैं। लेकिन साधन की प्रवृत्ति में रहते कमल पुष्प समान न्यारे और बाप के प्यारे बनो। यूज़ करते हुए उन्हों के प्रभाव में नहीं आओ। साधनों में बेहद की वैराग्य वृत्ति मर्ज न हो। पहले स्वयं में इसे इमर्ज करो फिर विश्व में वायुमण्डल फैलाओ।
स्लोगन:- परेशान को अपनी शान में स्थित कर देना ही सबसे अच्छी सेवा है।

TODAY MURLI 3 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 3 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 2 October 2018 :- Click Here

03/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have found the unique Master. Follow His shrimat and you will become double-crowned deities.
Question: What easy effort do you make so that you do not become tired of the study?
Answer: Keep your stage equanimous in praise and defamation, regard and disregard that happens in the study. Consider all of that to be a game and you will never become tired. Krishna has been defamed the most. People have accused him of so many things and yet they also worship such a Krishna. Therefore, taking insults is not a new thing, so never become tired of the study. Continue to study for as long as the Father teaches you.
Song: O Dweller of the Forest, Your name is the support of my life!

Om shanti. Who said this? Who spoke and to whom? Only you children, who are called gopes and gopis, know this. So, they remembered their Father, Gopi Vallabh. No one, apart from the Supreme Father, the Supreme Soul, can be such a Father. So, they remember those who have been here and gone. They are later praised. For example, Christ came but, having established the Christian religion, he didn’t go away anywhere. He definitely had to sustain it; he had to take rebirth. However, every year, people celebrate the birthdays of those who leave after establishing their religion. They are remembered on the path of devotion. In the same way, people celebrate the festival of Dashera nowadays. It is celebrated, so it must definitely be something auspicious. When someone leaves having done something good, his festival is celebrated. Even the festival of Deepmala is celebrated. Krishna’s birthday is also celebrated. They celebrate the festivals of those who have been and gone. The people of Bharat don’t know why the festivals of Rakhi, etc. are celebrated. What happened? They know that Christ and Buddha came to establish their religions. At this time, all are the devilish community whereas you are the Godly community. The Father, Rama, has now come and is making you divine and elevated. Or, it can be said that the Supreme Father has come and is having heaven inaugurated, that is, He is laying the foundation for it. It can also be called the opening ceremony. The elevated emperors and empresses in Bharat have been and gone. The golden-aged deities were double crowned. They had crowns of purity and also crowns studded with jewels. Vicious kings only have crowns studded with jewels. Those with single crowns worship those with double crowns. However, no one knows when they came and went or how they received their kingdom. Lakshmi and Narayan were such elevated, double-crowned deities. The Father sits here and explains who made them so elevated. People celebrate Dashera. You know that something must have happened that caused people to celebrate Dashera and burn an effigy of Ravan. However, he is not something that will get burnt. His kingdom is now coming to an end. Until the kingdom of Rama is established, the corrupt kingdom has to continue. People continue to celebrate the ceremonyof when the kingdom of Ravan ended and the kingdom of Rama was established. They burn an effigy of Ravan which proves that this truly is the corrupt devilish kingdom. There are also grades of corruption. Corruption begins in the copper age. At first, there are two degrees of corruption, then four degrees, then eight degrees, then ten degrees and, having gradually increased, it has now become 16 degrees of corruption. Now, to change those who are 16 degrees corrupt to 16 degrees elevated is the task of the one Father alone. The Father explains: At this time, it is the kingdom of Ravan. The kingdom of Rama was the elevated kingdom. That has now become corrupt. The elevated Bharat is called heaven. That same kingdom has now become corrupt. The Father says: I have now come to make the corrupt kingdom into the elevated kingdom. There are the Yadava and the Kaurava clans. There are innumerable religions in the Yadava clan. Those who belonged to the elevated deity religion have become corrupt in their religion and their actions. The Father now teaches them how to perform elevated actions. They have been celebrating festivals on the path of devotion. God definitely came; it is a matter of 5000 years. The Father came and made the corrupt beings elevated. It is the Father’s task alone to make the whole world elevated. Then, He sends you down from above to sustain it: Go and sustain the deity religion that you established. It isn’t that anyone says this; it happens automatically according to the drama. When you become elevated, even the world will become satopradhan and elevated. Now, even the five elements are tamopradhan. There is so much upheaval and people are so unhappy. Damage costing millions is caused. In the golden age, there won’t be any of these calamities. Calamities take place in hell. Even the calamities are at first only two degrees whereas they have now become 16 degrees. All of these things have to be explained in detail. They are very easy, but people are unable to understand them or explain to others. So, this burning of Ravan began in the copper age. You cannot say that it started 5000 years ago. When the path of devotion begins, all of these calamities also begin. You now know how the kingdom of Ravan is destroyed and how the kingdom of Rama is established. People don’t know what Ravan is. The Father says: There wasn’t anything such as Lanka. There is no Lanka in the golden age. There are very few people there. They live by the banks of the River Jamuna. In Ajmer, they show a model of Paradise, but they don’t understand it. It doesn’t take long to build golden palaces there. They use machinery to melt gold quickly and make tiles etc. You children know that this science through which destruction takes place will be useful to you later on. They make aeroplanes etc. now for great happiness, but they will also carry out destruction through them. So, these aeroplanes are for sorrow as well as happiness. That is temporary happiness. All of these things have been invented in the last hundred years. So, so much has happened in the last hundred years. So, just think: when destruction takes place, all of these things will be created in such a short time in the new world. There, the golden palaces are built very quickly. In Bharat, so many palaces are studded with gold and silver. They have big royal courts there. Royal people would meet there. That would not be called the Pandava gathering. That would be called the gathering of the kingdom of Lakshmi and Narayan. All the princes and princesses also go and sit there. When it was the British Government, there used to be great royal court gatherings of princesprincesses and Maharajas. All the kings would be sitting there wearing their crowns. When Baba used to go to Nepal, they would hold the gathering of the Rana (king) family. Kings with big crowns would sit there. They were called emperors and empresses and they were all numberwise. The queens wouldn’t sit there. They remained behind the curtains. They sat with a lot of grandeur. We used to say that that was the Pandava Government. They called themselves the sun dynasty. They used to exist here too. However, they had single crowns, because it was before them that there were those with double crowns. They have written so many things about Krishna: He abducted so-and-so and did such-and-such. However, there was nothing like that. People continue to celebrate the festivals of things that took place in the past. They also celebrate the festival of when the kingdom of Ravan ended and the kingdom of Rama was established. They celebrate it every year. So, this proves that the devilish kingdom of Ravan also existed 5000 years ago. The Father came and inspired the destruction of the kingdom of Ravan. That same Mahabharat War is just ahead. However, there is no such thing as Ravan. They show Madodri as the wife of Ravan, but they don’t show her with ten heads. They show Ravan with ten heads. They show Vishnu with four arms: two arms of Lakshmi and two arms of Narayan. They show Ravan with ten heads: five vices of his and five vices of Madodri. They have also shown the significance of the four-armed image of Vishnu. They also worship Mahalakshmi. They never show Mahalakshmi with two arms. At Deepmala, they invoke Lakshmi. Why? Did Narayan commit a crime? After all, Lakshmi gets her wealth from Narayan anyway; she is a halfpartner. So, what crime did Narayan commit? In fact, wealth is not received from Lakshmi. Wealth is received from Jagadamba. You know that Jagadamba then becomes Lakshmi. So, they have separated the two of them. They ask Jagadamba for everything. If they have any sorrow, if their son dies, they pray to Jagadamba: “Protect us.” “Give me a child!” “Remove this illness of mine!” They have many such desires. They go to Lakshmi and only place one desire in front of her and that is for wealth; that’s all! Jagadamba is the one who fulfils all your desires. She is the one who makes you wealthy. At this time, all your desires are being fulfilled. They don’t give wealth; they simply teach you through which, from nothing, you become great. Then, when you become Lakshmi, you become wealthy. At this time, you have the power to fulfil all desires. Jagadamba gives donations. Lakshmi does not give donations. Donations are not given there. There is no starvation there. No one is poverty-stricken there. Ravan doesn’t exist in the golden age. Here, they burn Ravan. After Dashera, they celebrate Deepmala. They celebrate in happiness. The kingdom of Ravan has been destroyed and the kingdom of Rama established and so there would be happiness; there is light in every home. You souls receive enlightenment. The things that exist at the confluence age do not exist in the golden age. You are trikaldarshi and you experience the reward there. There, you will have forgotten all of this knowledge. At the confluence age, there is establishment and destruction. Once establishment has taken place, that’s it. Only you know about all of those festivals. Ignorant people don’t understand anything. They make much out of nothing. You can see in a practical way that those things do not exist in the golden age. The story of Narad is also mentioned in the scriptures. When you are asked, you reply: Baba, I will marry either Lakshmi or Narayan. So, the Father says: Check yourself to see that you don’t have any vices. If you have anger etc., how would you be able to marry them? Yes, no one has yet become perfect, but you do have to become that. You have to chase away those evil spirits, because only then will you be able to claim a status. You have found the unique Master. The Father is full of all virtues. He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Bliss and so He also makes those who come and become His children full of all virtues and double-crowned deities. You are truly becoming that. Deities have both crowns. You have come here to claim your inheritance from the Father. You have to claim your inheritance; you have to study. Many pointscontinue to emerge. If you don’t study, how would you be able to explain to others? The drama is repeating identically. You understand this knowledge at this time and it will then disappear. The Lanka etc. that they show doesn’t really exist. When was Ravan born? It is written that the deities go on to the path of sin in the copper age and that they begin to become vicious. Devotion was at first unadulterated and it then became adulterated. People have now begun to have themselves worshipped. The Father says: I come to carry out establishment of the elevated world and destruction of the corrupt world. Surely, establishment would be carried out first and then destruction. This is My part every cycle. It takes time to make it elevated from corrupt. You have to study for as long as the Father teaches. However much those who studied in the previous cycle studied, they will study the same now. While moving along, many children say: That’s it. I am not able to continue any more. Ah! There will be praise and defamation, regard and disregard. Why do you stop studying because of that? It was Krishna who was defamed the most; he was accused of so many things. So, why do people then worship such a Krishna? In fact, it is this one (Brahma) who takes all the insults at this time. He was defamed throughout the whole of Sindh. However, those people were unable to do anything. All of this is a game. It is nothing new. He took insults in the previous cycle too. He crossed the river. You came away from the shore of Sindh to this side. It wasn’t Krishna, but this Dada, who used to come and go. You know that you are now claiming the kingdom and that you will then lose it. This too is a game. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to become Kamdhenu (Jagadamba), one who fulfils everyone’s desires. Continue to donate.
  2. Keep your stage in equanimity in praise and defamation. While all of that happens, you mustn’t stop studying. Consider all of it to be a game and get over it.
Blessing: May you be a master almighty authority who travels to the sweet home in a second with the aeroplane of a clean mind and a divine intellect.
Scientists are trying to invent vehicles that have a fast speed and they spend so much money, time and energy on that. However, you have an instrument with such a fast speed that, without spending anything, you just have a thought and you arrive there. You have found the tool of a pure mind and a divine intellect. With the aeroplane of a clean mind and a divine intellect you can fly whenever you want and return whenever you want. No one can stop a master almighty authority.
Slogan: When your heart is always true, you continue to receive blessings from the Father, the Comforter of Hearts.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 3 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 October 2018

To Read Murli 2 October 2018 :- Click Here
03-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें बड़ा विचित्र उस्ताद मिला है, तुम उसकी श्रीमत पर चलो तो डबल सिरताज देवता बन जायेंगे”
प्रश्नः- पढ़ाई में कभी भी थकावट न आये उसका सहज पुरुषार्थ क्या है?
उत्तर:- पढ़ाई के बीच में जो कभी निंदा-स्तुति, मान-अपमान होता है, उसमें स्थिति समान रहे, उसे एक खेल समझो तो कभी थकावट नहीं आयेगी। सबसे जास्ती निंदा तो कृष्ण की हुई है, कितने कलंक लगाये हैं, फिर ऐसे कृष्ण को पूजते भी हैं। तो यह गाली मिलना कोई नई बात नहीं है इसलिए पढ़ाई में थकना नहीं है, जब तक बाप पढ़ा रहे हैं, पढ़ते रहना है।
गीत:- बनवारी रे जीने का सहारा तेरा नाम……

ओम् शान्ति। यह किसने कहा? किसने फ़रमाया और किसको? यह तो तुम बच्चे ही जानते हो, जिनको ही गोप-गोपियाँ कहा जाता है। तो उन्होंने अपने बाप गोपीवल्लभ को याद किया। ऐसा बाप सिवाए परमपिता परमात्मा के कोई हो नहीं सकता। तो याद उनको करते हैं, जो होकर जाते हैं। उनका फिर बाद में गायन होता है। मिसाल – जैसे क्राईस्ट आया, क्रिश्चियन धर्म स्थापन करके कहाँ चला नहीं गया, उनको पालना तो जरूर करनी है, पुनर्जन्म में आना है। परन्तु जो धर्म स्थापन करके गये हैं उनका वर्ष-वर्ष बर्थ डे मनाते हैं। भक्ति मार्ग में उनको याद किया जाता है। वैसे ही आजकल दशहरे का भी उत्सव मनाते हैं। मनाना होता है तो जरूर शुभ ही होगा। कोई अच्छा करके जाते हैं तो उनका उत्सव मनाया जाता है। दीपमाला का भी उत्सव मनाया जाता है। कृष्ण जयन्ती मनाई जाती है। जो होकर जाते हैं उनका फिर उत्सव मनाते हैं। अब भारतवासियों को तो यह पता है नहीं कि यह राखी उत्सव आदि क्यों मनाते हैं। क्या हुआ था? क्राइस्ट-बुद्ध आदि को जानते हैं कि यह धर्म स्थापन करने आये थे। इस समय सभी आसुरी सम्प्रदाय हैं। तुम हो ईश्वरीय सम्प्रदाय। अब बाप राम आकर दैवी श्रेष्ठाचारी बना रहे हैं अथवा ऐसे कहें कि परमपिता आकर स्वर्ग का उद्घाटन कर रहे हैं अथवा फाउन्डेशन डाल रहे हैं। ओपनिंग सेरीमनी भी कह सकते हैं। भारत में श्रेष्ठाचारी महाराजा-महारानी होकर गये हैं, सतयुगी देवी-देवतायें डबल सिरताज थे। पवित्रता का ताज भी था और रत्नजड़ित ताज भी था। विकारी राजाओं को सिर्फ रत्नजड़ित ताज होता है। डबल ताज वालों की सिंगल ताज वाले पूजा करते हैं। परन्तु कब होकर गये, कैसे राज्य पाया यह किसको पता नहीं है। लक्ष्मी-नारायण इतने श्रेष्ठ डबल सिरताज देवी-देवता थे, उन्हों को ऐसा श्रेष्ठ बनाने वाला कौन, यह बाप बैठ समझाते हैं। अभी दशहरा मनाते हैं, तुम जानते हो जरूर कुछ हुआ है जिस कारण दशहरा मनाते हैं, रावण को जलाते हैं। परन्तु वह जलने की चीज है नहीं। अभी उनका राज्य पूरा होता है। जब तक रामराज्य स्थापन हो जाए तब तक यह भ्रष्टाचारी राज्य चलना है। रावण राज्य ख़त्म हो रामराज्य स्थापन हुआ था, उसकी सेरीमनी मनाते रहते हैं। रावण को जलाते हैं, इससे सिद्ध करते हैं बरोबर भ्रष्टाचारी आसुरी राज्य है। भ्रष्टाचार की भी ग्रेड्स रहती हैं। भ्रष्टाचार द्वापर से शुरू होता है। पहले दो कला भ्रष्टाचार रहता है फिर 4 कला, फिर 8 कला, 10 कला, बढ़ते-बढ़ते 16 कला भ्रष्टाचार हो गया है। अभी फिर 16 कला भ्रष्टाचार को बदलाए 16 कला श्रेष्ठाचारी बनाना एक बाप का ही काम है।

बाप समझाते हैं इस समय रावणराज्य है, रामराज्य श्रेष्ठ राज्य था। अभी वह भ्रष्ट बन गये हैं। श्रेष्ठाचारी भारत को स्वर्ग कहा जाता है। वही राज्य अब भ्रष्टाचारी हो गया है। अब बाप कहते हैं – मैं आया हूँ भ्रष्टाचारी राज्य को श्रेष्ठाचारी राज्य बनाने लिए। यादव कुल भी है, कौरव कुल भी है। यादव कुल में भी अनेक धर्म हैं। जो श्रेष्ठाचारी दैवी धर्म के थे वह धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट बन पड़े हैं। फिर बाप श्रेष्ठ कर्म सिखलाते हैं। भक्ति मार्ग में उत्सव मनाते आये हैं। जरूर भगवान् आया था, 5 हज़ार वर्ष की बात है। बाप ने आकर भ्रष्टाचारी को श्रेष्ठाचारी बनाया था। सारी दुनिया को श्रेष्ठाचारी बनाना बाप का ही काम है, फिर उनकी पालना करने लिए तुमको ऊपर से भेज देते हैं। तुमने जो दैवी धर्म की स्थापना की है, उसकी फिर जाकर पालना करो। ऐसे कोई कहते नहीं, आटोमेटिकली यह ड्रामा अनुसार होता है। तुम श्रेष्ठाचारी बन जायेंगे फिर सृष्टि भी सतोप्रधान श्रेष्ठाचारी बन जायेगी। अभी तो 5 तत्व भी तमोप्रधान हैं। कितनी उथल-पाथल होती रहती है। मनुष्य कितने दु:खी होते हैं। करोड़ों का नुकसान हो जाता है। सतयुग में यह कोई भी उपद्रव नहीं होते। उपद्रव होते हैं नर्क में। उपद्रव भी पहले दो कला वाले थे, अभी 16 कला वाले बन गये हैं। यह सब डीटेल में समझाने की बातें हैं और हैं बहुत सहज, परन्तु समझते नहीं, न समझा सकते हैं। तो यह रावण को जलाना द्वापर से शुरू होता है। ऐसे थोड़ेही कहेंगे 5 हज़ार वर्ष हुए। भक्ति मार्ग शुरू होता है तो यह उपद्रव भी शुरू होते हैं। अब फिर रावण राज्य का विनाश, रामराज्य की स्थापना कैसे होती है सो तुम जानते हो। मनुष्य नहीं जानते रावण क्या है। बाप कहते हैं लंका तो कोई थी नहीं। सतयुग में लंका होती नहीं। बहुत थोड़े मनुष्य होते हैं। जमुना का कण्ठा है। अजमेर में वैकुण्ठ का मॉडल भी दिखाते हैं परन्तु समझते नहीं। सोने के महल आदि बनाने में वहाँ कोई देर नहीं लगती है। मशीनरी पर झट गलाकर टाइल्स बनाते हैं।

तुम बच्चे जानते हो यह जो साइंस है, जिससे विनाश होता है, वही फिर तुमको वहाँ काम में आयेगी। अभी यह एरोप्लेन आदि बड़ी खुशी के लिए बनाते हैं, उनसे ही विनाश करेंगे। तो यह एरोप्लेन सुख के लिए भी है तो दु:ख के लिए भी है। अल्पकाल लिए सुख है। 100 वर्ष के अन्दर यह सब चीजें निकली हैं। तो 100 वर्ष के अन्दर इतना सब हुआ है। तो तुम विचार करो जब विनाश होगा फिर नई दुनिया में कितने थोड़े समय में सब चीज़े बन जायेंगी। वहाँ तो झट सोने के महल बन जाते हैं। भारत में सोने चाँदी के कितने महल जड़ित से जड़े हुए बनते हैं। वहाँ दरबार बड़ी बनती है। राजे रजवाड़े आपस में मिलते होंगे। उसको पाण्डव सभा नहीं कहेंगे। उसको कहेंगे लक्ष्मी-नारायण के राजधानी की सभा। प्रिन्स-प्रिन्सेज सब आकर बैठते हैं। ब्रिटिश गवर्मेन्ट थी तो प्रिन्स-प्रिन्सेज महाराजाओं की बड़ी सभा लगती थी। सब राजाई ताज लगाकर बैठते थे। नेपाल में बाबा जाते थे तो वहाँ राणा फैमिली की सभा लगती थी। बड़े ताज वाले राणे बैठते थे। उनको महाराजा-महारानी कहते हैं, फिर उनमें भी नम्बरवार होते हैं। रानियाँ नहीं बैठती हैं। वह पर्देनशीन होती हैं। बड़े भभके से बैठते हैं। हम कहते थे यह तो पाण्डव राज्य है। वह अपने को कहते भी सूर्यवंशी हैं। यहाँ थे परन्तु सिंगल ताज वाले। उनसे पहले डबल सिरताज थे। कृष्ण के लिए अनेक बातें लिख दी हैं – फलानी को भगाया, यह किया। परन्तु ऐसी बात तो है नहीं।

जो उत्सव पास्ट हो जाते हैं वह फिर मनाते आते हैं। यह भी उत्सव मनाते हैं। जबकि रावण राज्य को ख़लास कर रामराज्य की स्थापना की, यह तो वर्ष-वर्ष मनाते हैं। तो सिद्ध होता है आसुरी रावण राज्य 5 हजार वर्ष पहले भी था। बाप आया था, आकर रावण राज्य का विनाश कराया था। वही महाभारत लड़ाई खड़ी है। बाकी रावण कोई चीज़ नहीं है। रावण की स्त्री मदोदरी दिखाते हैं। उनको फिर 10 शीश नहीं दिखाते हैं। रावण को 10 शीश दिखाते हैं। विष्णु को 4 भुजा दिखाते हैं। दो लक्ष्मी की, दो नारायण की। वैसे रावण को 10 शीश दिखाते हैं – 5 विकार उनके, 5 विकार मदोदरी के। विष्णु चतुर्भुज भी अर्थ सहित दिखाया है। पूजा भी महालक्ष्मी की करते हैं। महालक्ष्मी को कभी दो भुजा वाला नहीं दिखायेंगे। दीपमाला में लक्ष्मी का आह्वान करते हैं। क्यों, नारायण ने कोई गुनाह किया क्या? लक्ष्मी को भी धन तो नारायण ही देता होगा ना। हाफ पार्टनर होंगे। तो नारायण ने क्या गुनाह किया? वास्तव में धन कोई लक्ष्मी से नहीं मिलता, धन तो जगदम्बा से मिलता है। तुम जानते हो जगत अम्बा सो ही फिर लक्ष्मी बनती है। तो उन्होंने अलग-अलग कर दिया है। जगत अम्बा से हर चीज़ माँगते हैं। कोई भी दु:ख होगा, बच्चा मर जायेगा तो जगत अम्बा को कहेंगे रक्षा करो, बच्चा दो, यह बीमारी दूर करो। बहुत कामनायें रखते हैं। लक्ष्मी के पास एक ही कामना रखकर जाते हैं – धन की। बस। जगत अम्बा सभी कामनायें पूरी करने वाली है। धनवान तो यह बनाती है। इस समय तुम्हारी सब कामनायें पूरी होती हैं। कोई धन नहीं देते हैं, सिर्फ पढ़ाते हैं – जिससे तुम क्या से क्या बन जाते हो और फिर लक्ष्मी बनती हो तो धनवान बन जाती हो। ताकत इस समय तुम्हारे में है जो तुम सब कामनायें पूरी कर सकती हो। जगत अम्बा दान देती है, लक्ष्मी दान थोड़ेही देगी। वहाँ दान देते नहीं। भूख होती ही नहीं। कंगाल कोई होते नहीं। सतयुग में रावण होता नहीं। यहाँ रावण को जलाते हैं। दशहरे के बाद फिर दीपमाला मनाते हैं, खुशियाँ मनाते हैं क्योंकि रावण राज्य विनाश हो रामराज्य स्थापन होगा तो खुशियाँ होंगी। घर-घर में रोशनी हो जाती है। तुम्हारी आत्मा में रोशनी आ जाती है। जो चीज़ संगम पर है वह सतयुग में नहीं होगी। तुम त्रिकालदर्शी हो, वहाँ तो तुम प्रालब्ध भोगते हो। यह नॉलेज सारी भूल जाते हो। संगम पर है ही स्थापना और विनाश। स्थापना हो गई फिर बस। इन सब उत्सवों आदि का तुमको ही ज्ञान है। अज्ञानी मनुष्य तो कुछ भी नहीं समझते। बड़े बखेरे बना देते हैं, है कुछ भी नहीं। तुम प्रैक्टिकल में देख रहे हो सतयुग में यह बातें नहीं होती हैं। नारद की भी बात शास्त्रों में है। तुमसे भी पूछा जाता है – तुम कहते हो बाबा हम लक्ष्मी को वरेंगे अथवा नारायण को वरेंगे। तो बाप कहते हैं अपने में देखो कोई विकार तो नहीं है। अगर क्रोध आदि होगा तो कैसे वर सकेंगे? हाँ, अभी सम्पूर्ण तो कोई बने नहीं है। परन्तु बनना है, इन भूतों को भगाना है तब ही इतना मर्तबा पा सकेंगे। उस्ताद भी बड़ा विचित्र मिला है। बाप तो सर्वगुण सम्पन्न, ज्ञान का सागर, आनन्द का सागर है तो जो आकर बच्चे बनते हैं उनको भी सर्वगुण सम्पन्न, डबल सिरताज देवता बनाते हैं। बरोबर तुम बन रहे हो। देवताओं को दोनों ताज रहते हैं। तुम आये हो बाप से वर्सा लेने। वर्सा लेना है, पढ़ना है। प्वाइन्ट्स तो बहुत निकलती रहती हैं। अगर पढ़ेंगे नहीं तो औरों को कैसे समझा सकेंगे? ड्रामा हूबहू रिपीट हो रहा है। यह नॉलेज अभी तुम समझते हो फिर यह गुम हो जायेगी। यह जो लंका आदि दिखाते हैं, वह भी है नहीं। रावण का जन्म कब हुआ? लिखा हुआ है द्वापर से देवतायें वाम मार्ग में जाते हैं तो विकारी बनना शुरू होते हैं। भक्ति भी पहले अव्यभिचारी थी फिर व्यभिचारी बन जाती है। अभी तो मनुष्य अपनी पूजा कराने लग पड़े हैं। बाप कहते हैं मैं आता ही हूँ भ्रष्टाचारी दुनिया का विनाश और श्रेष्ठाचारी दुनिया की स्थापना करने। जरूर पहले स्थापना करेंगे फिर विनाश करेंगे। यह हमारा पार्ट कल्प-कल्प का है। भ्रष्टाचारी से श्रेष्ठाचारी बनाने में भी टाईम लगता है। जब तक बाप बैठ पढ़ा रहे हैं, पढ़ना है। कल्प पहले जिन्होंने जितना पढ़ा है वही पढ़ेंगे। बहुत बच्चे चलते-चलते कहते – बस, हम चल नहीं सकेंगे। अरे, स्तुति-निंदा, मान-अपमान यह तो सब होगा। तुम पढ़ाई को क्यों छोड़ते हो। सबसे जास्ती निंदा तो कृष्ण की हुई है। कितने कलंक लगाये हैं। फिर ऐसे कृष्ण को पूजते क्यों हैं? वास्तव में गाली अभी इनको (ब्रह्मा को) मिलती है। सारे सिन्ध में निंदा हुई फिर कर तो कुछ भी नहीं सके। यह भी सब खेल है। नई बात नहीं, कल्प पहले भी गाली खाई थी, नदी पार की थी। तुम सिन्ध से निकल इस पार चले आये ना। कृष्ण तो नहीं था, यह दादा आता-जाता था। तुम जानते हो अभी हम राज्य पाते हैं फिर गंवाते हैं। यह भी खेल है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सर्व की मनोकामनायें पूर्ण करने वाली कामधेनु (जगदम्बा) बनना है। दान देते रहना है।

2) स्तुति-निंदा में स्थिति समान रखनी है। यह सब होते पढ़ाई नहीं छोड़नी है। इसे खेल समझ पार करना है।

वरदान:- शुद्ध मन और दिव्य बुद्धि के विमान द्वारा सेकण्ड में स्वीट होम की यात्रा करने वाले मा. सर्वशक्तिवान भव
साइन्स वाले फास्ट गति के यंत्र निकालने का प्रयत्न करते हैं, उसके लिए कितना खर्चा करते हैं, कितना समय और एनर्जी लगाते हैं, लेकिन आपके पास इतनी तीव्रगति का यंत्र है जो बिना खर्च के सोचा और पहुंचा, आपको शुभ संकल्प का यंत्र मिला है, दिव्य बुद्धि मिली है। इस शुद्ध मन और दिव्य बुद्धि के विमान द्वारा जब चाहे तब चले जाओ और जब चाहे तब लौट आओ। मास्टर सर्वशक्तिवान को कोई रोक नहीं सकता।
स्लोगन:- दिल सदा सच्ची हो तो दिलाराम बाप की आशीर्वाद मिलती रहेगी।
Font Resize