3 november 2017

TODAY MURLI 3 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 3 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 2 November 2017 :- Click Here

03/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you cannot receive liberation or liberation-in-life by remembering bodily beings. It is the Father Himself who gives you this inheritance directly.
Question: Which children does Maya drag to herself even after they belong to the Father?
Answer: Those whose yoga of the intellects wanders to their old relationships, who don’t have full knowledge and who still have old habits; such children are dragged by Maya to herself. The company outside is very bad and completely destroys you. The company you keep very soon affects you. This is why Baba says: Children, connect your intellects in yoga to the one Father. Only follow the Father. Don’t love any bodily being.
Song: Having found You, we have found everything. The earth, the sky all belong to us!

Om shanti. You sweetest children know that you are now receiving your inheritance from the unlimited Father. This is something you have to understand very well. It is said: The Supreme Father, the Supreme Soul, sends all the founders of religions to establish their own religions. So, they come and establish their religions. It isn’t that they give anyone an inheritance; no. There is no question of an inheritance there. It is only the one Father who gives you your inheritance. The Christ soul is not the Father of everyone that he would give the inheritance. He is not even the father of Christians that he could give an inheritance. The question arises: Which inheritance would he give and to whom? He (Christ) comes to establish a religion. All the other souls of the Christian religion continue to follow him down. There is no question of an inheritance. You have to receive your inheritance from the Father. For instance, Abraham, Buddha and Christcame. What did they do? Did they give an inheritance to anyone? No. It is the Father’s duty to give the inheritance. He comes here Himself. Souls continue to come down here and expansion continues to take place. An inheritance is always received from the Creator. One creator is a worldly father and the other is the Father from beyond this world. These things have to be imbibed. Only those who donate to others are able to imbibe these things. The unlimited Father has now come to give all the children the inheritance. Only the unlimited Father gives the children the unlimited inheritance. The Father of the Christians, the Buddhists and those of Islam is the same. Everyone calls Him God, the Father. Christ also spoke of God, the Father. No one ever forgets the Father. Only the one incorporeal One is called God, the Father. The Father of all incorporeal souls is One. That incorporeal Father is also the Father of all the founders of religions. Only from Him is the inheritance received. Everyone calls out to Him: God, the Father. It is in Bharat alone that they say that God is omnipresent. It is from Bharat that everyone else learns to say that God is omnipresent. If God is omnipresent, why do they remember God? For whom do sages make spiritual endeavour and to whom do they pray? The Father would ask this, would He not? The Creator of all is One. He alone is the Purifier. In the golden age, everyone is pure. Then, how do they become impure? It is written that the deities went on to the path of sin. The pure world is now being created once again. The impure world begins from the copper age onwards. The Godly kingdom and the devilish kingdom last for half the cycle each. This is a matter of Bharat alone. It is in Bharat alone that people burn an effigy of Ravan. So, Baba has explained that none of the other founders of religions give an inheritance to anyone else. They establish a religion and so they are remembered. Although you remember Christ, Brahma, Vishnu or Shankar or pray to them, they cannot give you anything. Only the one Father is the Bestower. He personally has to come here. No one believes that God comes in Krishna. The Father says: I only come once to give you souls your inheritance. The Father gives the inheritance to you children. Only the two are called Baba. One is the Baba of the body and the other is the Baba of souls; no one else can be Baba. You cannot receive the inheritance from this Baba, that is, from Prajapita Brahma. Only from Shiv Baba do you receive the inheritance. Brahma also claims his inheritance from Him. He is the Bestower of Salvation for All. He is the Bestower of Liberation and Liberation-in-Life for All. This is why anyone who comes has to be given the Father’s introduction first of all. Even though an elderly man is called Baba or Pitaji, he is not really a father. There are only worldly fathers and the Father from beyond this world. This Brahma is also a physical father; he adopts you children. Although you call Brahma ‘Baba’, you receive the inheritance from that One, do you not? Which inheritance? That of salvation. Everyone is liberated from degradation and a life of bondage. At this time, Bharat in particular and the whole world in general is in bondage to Ravan. Souls who come, experience liberation-in-life first and then they experience bondage-in-life. They have to experience happiness first and then sorrow. This should be made to sit in your intellects. You cannot receive liberation or liberation-in-life by remembering any bodily being. Even messengers don’t give anyone the inheritance. Only the Father comes and gives you the inheritance of liberation and liberation-in-life. However, some receive it directly and others receive it indirectly. The Father is personally in front of only you children. Day by day, you will see that Baba won’t go anywhere outside Madhuban. What does this old world have to offer? Shiv Baba says: I don’t even have the happiness of going to heaven or even seeing heaven. So, where would I go in this world? Such is My part! I come in the impure world. They speak of the seven wonders of the world , but they don’t show heaven in that. Heaven comes into existence later. I have to come into the impure world, in an impure body in a foreign kingdom. It is sung: The Resident of the faraway land. Only you children can understand the meaning of this. We are now making effort and we will then come back into our own land. OK, the souls who come down from the copper age will come into the foreign kingdom, that is, into the kingdom of Ravan. They will not come into the pure kingdom. Their parts are those of a little happiness and a little sorrow. You experience full happiness from the golden age onwards. Each one has received his or her own part. The Father sits here and explains to you children the secrets of how He establishes the deity religion. There is nothing but happiness in that and I make you worthy of it. You understand that you were the masters of heaven and that Maya then made you completely unworthy. The Father says: You have now become so senseless! There is the story of Narad. You can understand how a devotee who plays a musical instrument could not possibly marry Lakshmi until he had studied Raja Yoga and became pure. The body of everyone is corrupt because it is created through corruption. You are the mouth-born creation. These matters have to be understood. The Father Himself comes and gives you the knowledgeof the Creator and creation. No one would be able to understand all the points. As soon as you leave here and go into someone’s bad company, everything ends. It is said: Good company takes you across and bad company drowns you. Although you are sitting here, the intellect’s yoga of some of you is not completely here. Because they don’t have knowledge, they fall due to the influence of bad company. If you keep the company of anyone who has a habit, you very soon become affected. Here, you have Baba’s company. Those who follow the Father and also uplift others claim a high status. Many new children say: Baba, can I leave my job and become occupied in this service? Baba says: As you progress further, Maya will catch hold of you by the nose in such a way, don’t even ask! Experience says: Many left their jobs in this way and then left Baba. They took a Godly birth, but then Maya dragged them away. Maya punches very good children just once and makes them unconscious. They are the children whose yoga of the intellect wanders outside to their old relations. This is why Baba says: Don’t keep your yoga of the intellect connected to bodily beings a great deal. No matter how much love you have for this Baba, don’t connect your yoga of the intellect to him. If you don’t remember the Father, your sins cannot be absolved. Don’t love any bodily beings. At other spiritual gatherings, it is bodily beings who relate everything. Some mention the name of another great soul. They don’t say that the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, is teaching them. The Father sits here and explains to you children: I am the Living Seed of this creation. I have the knowledge of the whole tree. Those seeds are non-living. If they were living, they would also speak. I, the Seed, surely have the knowledge of the beginning, middle and end of the tree. This is a matter of the unlimited. At this time, the kingdom is tamopradhan, and so there would definitely be the splendour of that. They give themselves such big names: Gyaneshwar, Gangeshwarananda etc. However, no one can receive anand (bliss). Sannyasis themselves say that happiness is like the droppings of a crow. However, they don’t forget the name of heaven. They say that so-and-so went to heaven and then they invoke that departed spirit. That soul enters someone and speaks. However, no one knows how the soul comes. The body is someone else’s and it is that one’s soul that eats. The food would go into the stomach of that one (whose body is being used), but that other soul would take the fragrance. Shiv Baba is Abhogta (beyond the effect of experience). He doesn’t eat anything. When the soul of Mama comes, she eats. When departed spirits come, they eat. These matters have to be understood. So, no one, apart from the one Father, can be called Baba. What inheritance can you receive from them? You won’t be able to receive anything. Did Christ give an inheritance? They established a kingdom by fighting. It is the Christians who battled. Only when wealth has been accumulated can a kingdom be run. It isn’t that Christians gave the kingdom. You would say that the kingdom is received according to the drama plan , according to the effort you make. However, human beings cannot give anything to human beings. If they do give something, that is only temporary happiness. Now they are all tamopradhan. There is a lot of force of Maya. You now have to battle with Maya. Those who conquer Maya conquer the world. People beat their heads so much in order to stay in peace. The mind cannot become peaceful just like that. It is just that they learn something and they make people unconscious by hypnotising them. This requires effort. Some people’s brains also become spoilt. The Father says: If your intellects continue to be pulled by karmic bondages or by your friends and relatives, your sins will not be absolved. Your intellects have to be removed from bodily beings. Forget everyone! When you die, the world is dead for you. When you remember the world, punishment is received for that. You say: Baba, I have died. I now belong to You. So, why is your intellect pulled to your friends and relatives? It means that you have not died, that you don’t belong to the Father. There are many who are worried day and night about their karmic bondages. Even when they sit in remembrance, they continue to have those thoughts. When you stay in Baba’s lap here, it means you have died. So your yoga of the intellect should not go anywhere else. Sannyasis leave their homes and families which means that they have died. If they continued to remember them, how would they be able to stay in yoga? Some even return home again. Some are very firm and they therefore don’t remember anyone at all. If the intellects of you children continue to wander outside, you cannot claim a high status. Since you have become children, you have to follow the Father completely. There should not be any attachment at all. However, if it isn’t in their fortune, they go to the other side even after they have died. Only 5% of their intellects is here, 95% of their intellects is outside. They continue to wander everywhere; they neither belong here nor there. Once you belong to the Father, your intellect is finished; it has died. Scarcely anyone is able to have this unlimited renunciation. Only they are the ones who can become beads of the rosary. This is fortune. Those who come and stay here should not find anything difficult here. However, it is seen that those who stay here find it more difficult. Those who live outside go ahead very fast. They don’t have attachment to anyone. They feel: Let me become free from this bondage so that I can occupy myself in service. However, it has to be seen whether they are strong in knowledge. If someone is weak and her husband dies, it is like putting salt on a wound. Until you have died completely, it is like putting salt on a wound. Therefore, here, you just say “Baba” and that’s all! You belong to Baba and all your old relationships are broken. That person is responsible for himself and his own actions. Why should I be concerned? There should be that much enthusiasm. There are very few like this. When you find the Father, that’s it! You are then not concerned about anyone else. You need this much courage. You should have an honest heart. If you continue to follow shrimat, no one can stop you. No one can create obstacles to your becoming pure. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not have unnecessary thoughts about your karmic bondages. Remove your intellect from bodily beings. Have unlimited renunciation.
  2. In order to become free from bondage, become a complete destroyer of attachment. Have an honest heart. Become strong and courageous in knowledge.
Blessing: May you be a complete trustee who finishes the defect of the consciousness of “mine” and experiences being full.
If you remain an instrument according to the Father’s shrimat, then there is neither, “My family” nor “My centre”. While being with your family, you are a trustee and even while living at a centre, it is the Father’s centre, not yours and so, it is always the bhandari (Baba’s box) of Father Shiva and the bhandara (kitchen) of Brahma. By having this awareness you will experience being full. If you bring “mine” into your consciousness, then neither the bhandara nor bhandari will flourish. If anything is lacking in any task or there is a defect, that is, if something is missing, the reason for it is that there is the consciousness of “mine” instead of the Father’s, that is, has been impurity is mixed into it.
Slogan: In order to become equal to the Father, your understanding, your desires and your deeds all have to be equal.

*** Om Shanti ***

 

Read Murli 1 November 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 3 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 November 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 1 November 2017 :- Click Here
03/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – कोई भी देहधारी को याद करने से मुक्ति-जीवनमुक्ति नहीं मिल सकती, बाप ही तुम्हें डायरेक्ट यह वर्सा देते हैं
प्रश्नः- बाप का बनने के बाद भी माया किन बच्चों को अपनी ओर घसीट लेती है?
उत्तर:- जिनका बुद्धियोग पुराने सम्बन्धियों में भटकता है, पूरा ज्ञान नहीं है या कोई पुरानी आदत है, ऐसे बच्चों को माया अपनी ओर घसीट लेती है। बाहर का संग भी बहुत खराब है, जो खत्म कर देता है। संग का असर बहुत जल्दी लगता है, इसलिए बाबा कहते बच्चे एक बाप के साथ बुद्धियोग रखो। बाप को ही फालो करो। कोई भी देहधारी में प्यार नहीं रखो।
गीत:- तुम्हें पाके हमने…

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चे जानते हैं कि अभी बेहद के बाप से हमें वर्सा मिल रहा है। यह बहुत समझने की बात है। कहावत है परमपिता परमात्मा सभी धर्म स्थापकों को भेज देते हैं – अपना-अपना धर्म स्थापन करने के लिए। तो वह आकर धर्म स्थापन करते हैं। ऐसे नहीं कि वह कोई को वर्सा देते हैं। नहीं। वर्से की बात ही नहीं निकलती। वर्सा देने वाला एक बाप है। क्राइस्ट की आत्मा कोई सभी का बाप थोड़ेही है, जो वर्सा देगी। वह तो क्रिश्चियन का भी बाप नहीं जो वर्सा देवे। भला वह कौनसा वर्सा देंगे? प्रश्न उठता है। और वर्सा किसको देंगे? वह तो धर्म स्थापन करने आते हैं। उनके पीछे दूसरे क्रिश्चियन धर्म की आत्मायें आती जाती हैं। वर्से की बात ही नहीं। बाप से वर्सा लेना होता है। समझो इब्राहम, बुद्ध, क्राइस्ट आदि आये। उन्होंने क्या किया? किसको वर्सा दिया? नहीं। वर्सा देना बाप का ही काम है। वह तो खुद आते हैं। आत्मायें आती जाती, वृद्धि को पाती रहती हैं। वर्सा हमेशा क्रियेटर से मिलता है। क्रियेटर एक है लौकिक बाप, दूसरा है पारलौकिक बाप। यह धारण करने की बातें हैं। धारणा भी उन्हों को होगी जो औरों को दान करते होंगे। अभी बेहद का बाप सब बच्चों को वर्सा देने आये हैं। बेहद का बाप ही बच्चों को बेहद का वर्सा देते हैं। क्रिश्चियन, इस्लामी, बौद्धी आदि सबका बाप एक है। सब गॉड फादर कहते हैं। क्राइस्ट ने भी कहा है गॉड फादर। फादर को कभी भूलते नहीं हैं। गॉड फादर एक ही निराकार को कहा जाता है। सब निराकार आत्माओं का बाप एक ही है। धर्म स्थापकों का भी वह निराकार एक बाप है, उनसे ही वर्सा मिलता है। सब गॉड फादर कहकर पुकारते हैं। एक भारत ही है जिसमें कहते हैं – ईश्वर सर्वव्यापी है। भारत से ही और सभी सर्वव्यापी कहना सीखे हैं। अगर ईश्वर सर्वव्यापी है फिर ईश्वर को याद क्यों करते हो? साधू लोग साधना वा प्रार्थना किसकी करते हैं? बाप तो पूछेंगे ना। क्रियेटर सबका एक है, वही पतित-पावन है। सतयुग में सभी पावन ही होते हैं, फिर पतित कैसे बनते हैं? लिखा हुआ है – देवतायें ही वाम मार्ग में जाते हैं। अब फिर पावन दुनिया बन रही है। द्वापर आदि से पतित दुनिया शुरू होती है। ईश्वरीय राज्य और आसुरी राज्य आधा-आधा है। भारत की ही बात है। रावण को भारत में ही जलाते हैं। तो बाबा ने समझाया है और धर्म स्थापक किसको भी वर्सा नहीं देते हैं। बाकी धर्म स्थापन करते हैं, इसलिए उनको याद करते हैं। बाकी क्राइस्ट को, ब्रह्मा को, विष्णु को वा शंकर को याद करने अथवा उनकी प्रार्थना करने से वह कुछ भी नहीं दे सकते। देने वाला बाप ही है। उनको सम्मुख आना पड़ता हैं। कृष्ण में परमात्मा आते हैं – ऐसा कोई भी मानते नहीं हैं।

बाप कहते हैं मैं तुम आत्माओं को वर्सा देने एक ही टाइम पर आता हूँ। वर्सा बाप बच्चों को देते हैं। बाबा दो को ही कहा जाता है – एक शरीर का बाबा, दूसरा आत्माओं का बाबा, और कोई बाबा हो नहीं सकता। तुमको इस बाबा अर्थात् प्रजापिता ब्रह्मा से वर्सा मिल नहीं सकता। वर्सा एक शिवबाबा से मिलता है, ब्रह्मा भी वर्सा उनसे लेते हैं। वह सर्व के सद्गति दाता हैं। सर्व के मुक्ति-जीवनमुक्ति दाता हैं इसलिए पहले-पहले कोई को भी बाप का परिचय देना पड़े। भल कोई बुजुर्ग को भी बाबा वा पिता जी कह देते हैं। परन्तु बाप है नहीं। बाप एक लौकिक, दूसरा पारलौकिक ही होता है। यह ब्रह्मा भी जिस्मानी बाप है। तुम बच्चों को एडाप्ट करते हैं। भल तुम ब्रह्मा को बाबा कहते हो परन्तु वर्सा तो उनसे मिलता है ना। कौन सा वर्सा? सद्गति का। दुर्गति वा जीवनबंध से तो सब छूटते हैं। इस समय भारत खास, सारी दुनिया आम रावण के बंधन में है। आत्मायें जो पहले-पहले आती हैं तो पहले जीवनमुक्त फिर जीवनबंध बनती हैं। पहले सुख फिर दु:ख भोगना है। यह बुद्धि में बिठाना चाहिए। कोई भी देहधारी को याद करने से मुक्ति-जीवनमुक्ति मिल नहीं सकती। मैसेन्जर लोग भी किसको वर्सा देते नहीं हैं। मुक्ति-जीवनमुक्ति का वर्सा बाप ही आकर देते हैं। परन्तु किनको डायरेक्ट, किनको इनडायरेक्ट। तुम बच्चों के सम्मुख ही बाप होता है। दिन-प्रतिदिन तुम देखेंगे – बाबा मधुबन से बाहर कहाँ जायेंगे नहीं। इस पुरानी दुनिया में रखा ही क्या है। शिवबाबा कहते हैं हमको स्वर्ग में जाने अथवा स्वर्ग को देखने की भी खुशी नहीं है तो बाकी इस दुनिया में कहाँ जायेंगे। मेरा पार्ट ही ऐसा है, पतित दुनिया में आता हूँ। 7 वन्डर्स ऑफ वर्ल्ड कहते हैं, परन्तु उनमें कोई स्वर्ग बताते नहीं। स्वर्ग तो पीछे आता है। मुझे पतित दुनिया, पतित शरीर में पराये राज्य में आना पड़ता है। गाते भी हैं दूरदेश के रहने वाला… इसका अर्थ तुम बच्चे ही समझ सकते हो। अभी हम पुरूषार्थ करते हैं फिर अपने देश में आयेंगे। अच्छा द्वापर के बाद जो आत्मायें आयेंगी, वह तो पराये राज्य अर्थात् रावण राज्य में आयेंगी। पावन राज्य में तो नहीं आयेंगी। उन्हों का थोड़ा सुख, थोड़ा दु:ख का पार्ट है। तुम सतयुग से लेकर फुल सुख देखते हो। हर एक को अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। बाप तुम बच्चों को बैठ राज़ समझाते हैं कि मैं कैसे देवी-देवता धर्म स्थापन करता हूँ, इसमें सुख ही सुख है और उसके लिए तुमको लायक बनाता हूँ। तुम समझते हो हम स्वर्ग के मालिक थे फिर माया ने पूरा ना लायक बनाया है। बाप कहते हैं अभी तुम कितने बेसमझ बन पड़े हो, नारद की कहानी है ना। तुम समझ सकते हो – भगत झांझ बजाने वाला लक्ष्मी को कैसे वरेगा? जब तक राजयोग सीख पवित्र न बने। भल शरीर तो सबके भ्रष्टाचारी हैं क्योंकि भ्रष्टाचार से पैदा होते हैं। तुम तो मुख वंशावली हो। यह बड़ी समझने की बातें हैं। यह रचता और रचना की नॉलेज बाप खुद ही आकर देते हैं। सब प्वाइंट्स कोई समझ भी नहीं सकेंगे। यहाँ से बाहर गये – कोई का संग मिला और खत्म। कहा भी जाता है संग तारे कुसंग बोरे… भल यहाँ भी बैठे हैं परन्तु पूरा बुद्धियोग नहीं है। ज्ञान नहीं है तो संगदोष में गिर पड़ते हैं। कोई भी किसी में आदत है तो उनका संग करने से वह असर झट पड़ जाता है। यहाँ है बाबा का संग। फिर जो बाप को फालो कर औरों का भी उद्धार करते हैं, वही ऊंच पद पाते हैं। कई नये-नये बच्चे कहते हैं बाबा हम नौकरी आदि छोड़ इस सर्विस में लग जायें? बाबा कहते हैं – आगे चल माया नाक से ऐसे पकड़ेगी जो बात मत पूछो। अनुभव कहता है – ऐसे बहुतों ने छोड़ा फिर चले गये। ईश्वरीय जन्म तो लिया फिर माया ने घसीट लिया। बड़े अच्छे-अच्छे बच्चों को माया एक घूसा लगाए बेहोश कर देती है, जिनका बुद्धियोग बाहर भटकता रहता है, पुराने सम्बन्धियों आदि में इसलिए बाबा कहते हैं देहधारियों से बुद्धियोग जास्ती मत रखो। इस बाबा से भी भल तुम्हारा कितना भी प्यार है तो भी इनसे बुद्धियोग मत लगाओ। बाप को याद नहीं करेंगे तो विकर्म विनाश नहीं होंगे। कोई भी शरीरधारी में प्यार मत रखो। सतसंगों में सब शरीरधारी ही सुनाते हैं। कोई महात्मा का नाम लेते हैं। ऐसे थोड़ेही कहते हैं कि परमपिता परमात्मा शिव हमको पढ़ाते हैं। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं – इस रचना का चैतन्य बीज मैं हूँ। मुझे सारे झाड़ की नॉलेज है। वह तो जड़ बीज है। चैतन्य होता तो सुनाता। मुझ बीज में जरूर झाड़ के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज होगी। यह है बेहद की बात। इस समय तमोप्रधान राज्य है, तो उसका भभका जरूर होगा। कितने बड़े-बड़े नाम रखाते हैं – ज्ञानेश्वर, गंगेश्वरानंद… लेकिन आनंद तो कोई को मिल नहीं सकता। सन्यासी खुद कहते हैं सुख काग विष्टा समान है। लेकिन स्वर्ग का नाम भूलते नहीं हैं। कहते हैं फलाना स्वर्ग पधारा फिर पित्रों को बुलाते हैं। आत्मा कोई में प्रवेश कर बोलती है। परन्तु आत्मा कैसे आती है, कोई नहीं जानते। शरीर दूसरे का है, खायेगी भी उनकी आत्मा। उनके पेट में पड़ेगा। हाँ बाकी वासना वह लेती है। शिवबाबा तो है ही अभोक्ता। कुछ खाते नहीं। मम्मा की आत्मा आती है तो खाती है। पित्र भी आते हैं तो खाते हैं, यह बातें समझने की हैं। तो सिवाए एक के किसको बाबा नहीं कहा जाता, इनसे क्या वर्सा मिल सकता? कुछ नहीं मिल सकेगा। क्राइस्ट ने वर्सा दिया है क्या? उन्होंने तो लड़ाई कर राजाई स्थापन की है। क्रिश्चियन लोगों ने लड़ाई की। जब धन की वृद्धि हो, धन इकट्ठा हो तब राजाई चल सके। ऐसे थोड़ेही है कि क्रिश्चियन ने राजाई दी। राजाई अपने पुरूषार्थ से ड्रामा प्लैन अनुसार मिलती है ऐसे कहेंगे, बाकी मनुष्य किसको कुछ दे नहीं सकते। अगर देते हैं तो अल्पकाल का सुख। अभी तो तमोप्रधान हैं। माया का बहुत ज़ोर है, अब माया से युद्ध करना है। माया जीते जगतजीत, मनुष्य शान्ति में रहने के लिए कितना माथा मारते हैं। मन ऐसे थोड़ेही शान्त हो सकता है। यह तो कुछ सीखते हैं जो हिप्नोटाइज़ आदि कर अनकानसेस कर देते हैं। मेहनत लगती है, किसकी तो ब्रेन ही खराब हो जाती है। बाप कहते हैं अगर कोई कर्मबन्धन में अथवा मित्र सम्बन्धी आदि में बुद्धि जाती रहेगी तो विकर्म विनाश नहीं होंगे। देहधारी से बुद्धि को हटाना है। सबको भूल जाओ, आप मुये मर गई दुनिया। दुनिया को याद करते हो तो तुमको दण्ड पड़ता है। तुम कहते हो कि बाबा हम मर चुके हैं। हम आपके हैं तो फिर मित्र सम्बन्धी आदि तरफ बुद्धि क्यों जाती है? गोया तुम मरे नहीं हो! बाप के बने नहीं हो! बहुत हैं जिनको रात-दिन कर्मबन्धन का ही चिंतन रहता है। याद में बैठते भी वही संकल्प आते रहते हैं। यहाँ बाबा की गोद में रहते तो मर चुके ना। तो बुद्धियोग कहाँ जाना नहीं चाहिए। सन्यासी तो घरबार छोड़ते हैं, गोया मर गये। अगर याद पड़ता रहेगा तो योग में कैसे रहेंगे। कोई फिर घर में लौट भी आते हैं। कोई पक्के होते हैं, बिल्कुल याद भी नहीं करते। तुम बच्चों की भी बुद्धि अगर बाहर जाती रहती है तो ऊंच पद पा न सकें। बच्चे बने हो तो फालो फादर पूरा करना चाहिए। कुछ भी मोह नहीं जाना चाहिए। परन्तु तकदीर में नहीं है तो मरकर भी उस तरफ चले जाते हैं। 5 प्रतिशत बुद्धि यहाँ है, 95 प्रतिशत बुद्धि बाहर है, भटकती रहती है ना। न इधर के, न उधर के। बाप के बने फिर बुद्धि ही खत्म। मर गये। इस बेहद के सन्यास में विरला ही कोई आ सकता है। माला का दाना भी वही बन सकता है। यह तो तकदीर है। यहाँ जो आकर रहते हैं – उन्हों को मेहनत नहीं लगनी चाहिए। परन्तु देखा जाता है कि यहाँ वालों को जास्ती मेहनत लगती है। बाहर में रहने वाले बड़े तीखे चले जाते हैं। किसी में मोह नहीं जाता। समझते हैं कहाँ यह बन्धन छूटे तो सर्विस में लग जायें। वह भी देखना पड़ता है – ज्ञान में पक्के हैं? अगर कच्चे होंगे और पति मर गया तो जैसे जख्म पर नमक पड़ जाता है। जब तक अच्छी रीति नहीं मरे हैं तो जैसे जख्म पर नमक पड़ता रहता है। यहाँ तो बाबा कहा, बस। बाबा के बन गये। पुराना सम्बन्ध छूटा। वह जानें उसके कर्म जानें। हम क्या जानें। इतनी उछल होनी चाहिए। ऐसे बहुत थोड़े हैं। बाप मिला बस और किसकी परवाह नहीं, इतनी हिम्मत चाहिए। सच्ची दिल हो, श्रीमत पर चलता रहे तो कोई भी रोक नहीं सकते हैं। पवित्र बनने में कोई विघ्न डाल नहीं सकते। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कर्मबन्धनों के चिन्तन में नहीं रहना है। बुद्धि को देह-धारियों से हटाना है। बेहद का सन्यास करना है।

2) बन्धनों से छूटने के लिए पूरा-पूरा नष्टोमोहा बनना है। सच्ची दिल रखनी है। ज्ञान में मजबूत (पक्का) और हिम्मतवान बनना है।

वरदान:- मेरे पन की खोट को समाप्त कर भरपूरता का अनुभव करने वाले सम्पूर्ण ट्रस्टी भव 
यदि बाप की श्रीमत प्रमाण निमित्त बनकर रहो तो न मेरी प्रवृत्ति है, न मेरा सेन्टर है। प्रवृत्ति में हो तो भी ट्रस्टी हो, सेन्टर पर हो तो भी बाप के सेन्टर हैं न कि मेरे इसलिए सदा शिव बाप की भण्डारी है, ब्रह्मा बाप का भण्डारा है – इस स्मृति से भरपूरता का अनुभव करेंगे। मेरा पन लाया तो भण्डारा व भण्डारी में बरक्कत नहीं होगी। किसी भी कार्य में अगर कोई खोट अर्थात् कमी है तो इसका कारण बाप की बजाए मेरेपन की खोट अर्थात् अशुद्धि मिक्स है।
स्लोगन:- बाप समान बनना है तो समझना, चाहना और करना – तीनों को समान बनाओ।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 1 November 2017 :- Click Here

 

Font Resize