3 may ki murli

TODAY MURLI 3 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

03/05/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, may you be soul conscious! Continue to practise this while walking and moving around and you will continue to make a great deal of progress.
Question: Which children’s intellects will be able to have accurate remembrance of the Father?
Answer: The children who have recognised the Father accurately. Some children ask how it’s possible to remember a point. On the path of devotion, people have been remembering Him, considering Him to be eternal, infinite light. Now, when you say that He is a point of light, they become confused. This is why there should first of all be the faith that the Father is not an eternal, infinite light. Only when you realise that He is an extremely subtle point can you have accurate remembrance.

Om shanti. All you children are sitting in remembrance. Manmanabhav! In fact, this is not a Sanskrit term. When the Father taught you easy Raja Yoga, He didn’t use Sanskrit words. This one doesn’t even know Sanskrit. The Father only explains in Hindi. Although this chariot knows Hindi, Sindhi and English, the Father only explains in Hindi. Whatever religion people belong to, they have their own language. Here, only the Hindi language is used. It is easy to understand this language. This school is wonderful: there is no need for any paper or pencil here. Here, you just have to remember one word, that is, remember the Father. It is difficult for everyone not to remember God, Ishwar or the Supreme Father, the Supreme Soul. Everyone remembers Him but they don’t have recognition of Him. The Father comes and gives the recognition of Himself. The Father comes and explains about the long duration of the cycle in the scriptures. This is not a big thing. What would old mothers and those with stone intellects understand? This is very easy. Even small children can understand this. The word “Baba” is not a new word. When people go to a Shiva temple, it enters their intellects that that is Shiv Baba and that He is incorporeal. All human beings say “Baba”. The Father of all of us souls is One. All souls of the beings, who reside in the body, remember the Father. Those of all religions definitely remember the Supreme Father, the Supreme Soul. He is the Father who resides in the supreme region. We are also residents of that place. We now just have to remember the Father. People want to become pure. They even call out: O Purifier, come! The new world was pure and it has now become old. No one would call it new any more. The people of Bharat know that the deities used to rule in new Bharat. What was there before new Bharat? The confluence age. There is an even easier answer than that: Before being new, it was the old world. People are not able to understand about the confluence age that easily. The period between the old world and the new world is called the confluence age. It is to the Father that they say: O Purifier, come! Come and purify us! We have become impure. No one calls out in the new world. It has now entered your intellects that Bharat was pure. “O Purifier, come!” People have been calling out in this way for a long time. They don’t know when the impure world will end. They say that it is written in the scriptures that it will remain impure for another 40,000 years. They are in total darkness. You are now in the light. The Father has now brought you into the light. The world cycle comes to an end after 5000 years. It is a matter of only yesterday when you used to rule. It truly was the kingdom of Lakshmi and Narayan; it was heaven. There cannot be any calamities etc. in the pure world. Only in the kingdom of Ravan are there calamities. The Father is explaining to you here and you are listening to Him personally with your ears. Who is listening? Souls. You souls are very happy that you have once again found the Father. You received your inheritance from the Father. He now says: Remember Me! This does not require any reading or writing. When someone comes, he is asked: Why have you come here? Some reply that they have come to meet the mahatma here. Why? What do you want? Tell me, do you want some alms? If he were a sannyasi, he would want a chapatti. When people go to meet sannyasis, or if they come across them on their way, those religious people would feel that, because they are pure, it would be good to feed them. There isn’t even that purity now; the world is completely tamopradhan and there is a lot of rubbish in it. People are so distressed! There is no question of being distressed here. The Father says: There is no need to write anything. The points that you write down are for you to imbibe. Doctors too have so many medicines. They are able to remember all of those medicines. A barrister has to keep so many points of law in his intellect. What do you have to remember? Just one thing and that too is very easy. You say: Just remember one Shiv Baba alone. Those people ask: How would Shiv Baba come? No one, apart from you, knows these things. Where is God? They either say that He is beyond name and form or that He is omnipresent. There is the difference of day and night between these two expressions. There is nothing that is beyond name or form. Then they say that God is in the cats and dogs etc. The two are completely opposite ideas. The Father gives His own introduction and says: Remember Me, your Father! “Easy Raja Yoga” is remembered. Baba says: Remove the word “yoga”. Just remember Me. A small child will instantly go and hug his parents when he sees them. Would he first think about who his mother and father are? No! There is no need to think about this. You simply have to remember Shiv Baba. You have been offering flowers to Shiva on the path of devotion. The Somnath Temple was so grand! Mahmud Guznavi came and looted it later on. The Somnath Temple is very famous in Bharat. First of all, there should be the worship of Shiva. All this knowledge is now in the intellects of you children. Although you used to worship, you did not understand that all those images are non-living. Shiv Baba must definitely have come in a living form. That is why people celebrate His birthday every year. They also say that Shiva, the Supreme Soul, is incorporeal. A soul knows that he too is incorporeal. You are now becoming soul conscious. It is very easy. He is our Father. He is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Happiness and the Purifier. There is a lot of praise of Him. There isn’t as much praise of Brahma, Vishnu or Shankar. People sing praise of only the One. You children now know that Baba has come and is giving us our inheritance. A physical father would provide everything for his children, but he doesn’t teach them. Children go to school to study and then, in their age of retirement, they adopt a guru. Nowadays, they even make young children adopt gurus. Here, you children are told to remember Shiv Baba. Everyone has a right. All are My children. There are also some among you who remember Me very well. Some ask: Baba, whom should we remember? How can we remember a point? Something big can be remembered. Achcha, who is the Supreme Soul whom you have been remembering? They say that He is eternal, infinite light. However, He is not like that. It is wrong to remember infinite light. There has to be accurate remembrance, but you first have to know Him accurately. The Father comes and gives His own introduction. He then also gives you children the information of the beginning, the middle and the end of the whole world in detail and in a nutshell. The Father now says: Children, if you want to become pure, there is just one solution: Remember Me! Only I am called the Purifier. Souls have to be made pure. This soul says that he has become impure. I was pure and have now become impure. All are tamopradhan. Everything is first satopradhan and then tamopradhan. A soul understands for himself that he has become impure and wants to be purified. There is no one impure in the land of peace. Here, all are impure and so they are unhappy. When they were pure, they were happy. Souls say: Purify us so that we can be liberated from sorrow. You understand that it is souls that do everything. A soul becomes a judge or barrister etc. A soul says: I am a king; I am so-and-so. I now have to shed this body and take another. This is called being soul conscious, being soul conscious while in a body. In the kingdom of Ravan, they are body conscious. It is only now that the Father makes you soul conscious. At this time, souls are impure and unhappy and they therefore call out to the Father: O Baba, come! You know that you have continued to become pure from impure and impure from pure according to the drama plan. The cycle continues to turn. How you have taken 84 births is now in your intellects. Now don’t forget this! Remain swadarshanchakradhari. You have all this knowledge in your intellects as you sit, walk and move around. You understand that you are claiming your unlimited inheritance from the unlimited Father. The Father explains to you children that you only have to remember the one Father. All you need to do is to remember the Father and eat a chapatti, that’s all! The Father repeatedly tells you sweetest, beloved, long-lost and now-found children: Children, all the stomach needs is a chapatti. The stomach doesn’t need much. All it needs is one ounce of flour: dal and a roti, that’s all! A person can feed himself with 10 rupees or a person can feed himself with 10,000. What do poor people eat? Yet they remain so strong and healthy! When people eat many different things, they fall ill even more. Even doctors advise you to eat one type of food so that you don’t fall ill. Therefore, the Father also explains: Just eat a chapatti. Remain happy with whatever you receive. There is nothing like dal and roti. There mustn’t be too much greed either. What do sannyasis do? They leave their homes and families and go away into the jungle. They consider the element of light to be God and remember that and think that they will merge into the brahm element. However, it is not like that. Souls are immortal. There is no question of souls merging. It is souls that become pure and impure. You have received such good knowledge! You experience the reward and forget the knowledge. You then have to come down the ladder. Your intellects now have all the knowledge of how you experience 84 births. No one’s part can come to an end. This drama is predestined and it continues to turn. You cannot ask when or how or where God created this drama; it just continues all the time. The history and geography of the world repeat. No one understands these things. You know that you have come here according to the drama plan. You are once again claiming your kingdom according to the drama. No one else can understand these things. It is asked: Is the drama or is the Father the Almighty Authority? They say that God is the Almighty Authority. They feel that He can do everything. The Father says: I too am bound by the drama. I have to come here to purify the impure. You become happy in the golden age. I go and rest in the supreme region. You climb onto My head. You then ride a lion (in the golden age). You understand that whatever happens, second by second, is fixed in the drama. You children have very good knowledge. You simply now have to remember the Father and the inheritance, that’s all! There is no need for paper or pencil etc. Even Brahma Baba is studying, but He doesn’t keep anything. You just have to remember the Father and you will receive your inheritance. It is so easy! By having remembrance you become ever healthy. This is a matter of imbibing. What would be the benefit of writing it down? All of it is going to be destroyed. However, some write down points in order to help them remember. When someone has to remember something, he ties a knot. You should also tie a knot for you to remember Shiv Baba and the inheritance. This is very easy. Yoga means remembrance. Some say: Baba, I cannot stay in remembrance. How can I stay in yoga? Oh! but you’re able to remember your worldly father while sitting, walking, moving around and doing everything. You also just have to stay in remembrance. That’s all! Then your boat will go across. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Become a spinner of the discus of self-realisation and continue to turn the cycle of 84 births around in your intellect. Remember the unlimited Father and claim your unlimited inheritance. Become pure.
  2. Don’t be greedy for anything. Remain happy with whatever you receive. Just eat a chapatti and stay in remembrance of the Father.
Blessing: May you always keep the foot of your intellect within the line of the codes of conduct and become filled with all attainments and powerful.
The children who never allow the foot of their intellects to go outside the line of the codes of conduct become lucky and lovely. They can never experience any obstacles, storms, distress or unhappiness. If any of these come to you, then you must understand that you have definitely stepped outside the line of a code of conduct with the foot of your intellect. To step outside the line means to become a beggar. Therefore, never become one who begs, be full of all attainments and powerful.
Slogan: Those who are always detached and loving to the Father are safe.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 3 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

03-05-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – आत्म-अभिमानी भव, चलते-फिरते, उठते-बैठते यही अभ्यास करते रहो तो तुम्हारी बहुत उन्नति होती रहेगी”
प्रश्नः- बाप की एक्यूरेट याद किन बच्चों की बुद्धि में रहेगी?
उत्तर:- जिन बच्चों ने बाप को एक्यूरेट जाना है। कई बच्चे कहते हैं कि बिन्दू को भला कैसे याद करें। भक्ति में तो अखण्ड ज्योति समझ याद करते आये, अभी बिन्दी कहकर मूँझ जाते हैं इसलिए पहले-पहले यह निश्चय हो कि बाप अखण्ड ज्योति नहीं, वह तो अति सूक्ष्म बिन्दू है तब याद एक्यूरेट रह सकती है।

ओम् शान्ति। सभी बच्चे याद में बैठे हैं। मनमनाभव। यह संस्कृत अक्षर वास्तव में है नहीं। बाप ने जब सहज राजयोग सिखाया है तब यह संस्कृत अक्षर बोले नहीं हैं। यह तो संस्कृत जानते ही नहीं हैं। बाप तो हिन्दी में ही समझाते हैं। भल यह रथ हिन्दी, सिन्धी तथा इंगलिश जानने वाला है परन्तु बाप समझाते हिन्दी में हैं। जो जिस धर्म का है उनकी अपनी भाषा है। यहाँ हिन्दी भाषा ही चलती है, यह भाषा समझना सहज है और यह स्कूल भी वन्डरफुल है। इसमें कोई भी कागज, पेन्सिल, पन्ने आदि की दरकार नहीं रहती। यहाँ तो सिर्फ एक अक्षर को याद करना है अर्थात् बाप को याद करो। गॉड को अथवा ईश्वर को अथवा परमपिता परमात्मा को कोई याद न करे – यह मुश्किल है, याद सभी करते हैं परन्तु उनकी पहचान नहीं है। बाप ही आकर अपनी पहचान देते हैं। शास्त्रों में जो कल्प की आयु इतनी लम्बी लिख दी है, वह बाप आकर समझाते हैं। बहुत बड़ी बात भी नहीं है। अहिल्यायें, बूढ़ी-बूढ़ी मातायें क्या समझेंगी। यह तो बहुत ही सहज है। कोई छोटे बच्चे भी समझ सकते हैं। बाबा अक्षर कोई नया नहीं है। शिव के मन्दिर में जाते हैं तो बुद्धि में आता है कि यह शिवबाबा है, वह निराकार है। सभी मनुष्य-मात्र बाबा कहते हैं। हम सर्व आत्माओं का बाप एक है। सब जीव की आत्मायें, जो शरीर में निवास करती हैं, बाप को याद करती हैं। सब धर्म वाले जो भी हैं, सब परमपिता परमात्मा को याद जरूर करते हैं। वह है परमधाम में रहने वाला बाप। हम भी वहाँ के रहने वाले हैं। तो अब सिर्फ बाप को याद करना है। चाहते भी हैं हम पावन बनें। बुलाते भी हैं – हे पतितों को पावन करने वाले आओ। नई दुनिया पावन थी, अब फिर पुरानी हुई है, इनको कोई नया नहीं कहेंगे। भारतवासी जानते हैं – नये भारत में देवी-देवता राज्य करते थे। जब नया भारत था तो उसके आगे क्या था? संगम। इससे भी सहज कहना चाहिए। नये के आगे पुराना था। संगम को मनुष्य इतना सहज समझ नहीं सकते। न्यु वर्ल्ड, ओल्ड वर्ल्ड, इसके बीच को फिर संगम कहते हैं। बाप के लिए ही कहते हैं – हे पतित-पावन आओ, आकर हमको पावन बनाओ। हम पतित बन गये हैं। नई दुनिया में कोई पुकारेंगे नहीं। अभी तुम्हारी समझ में आ गया है कि यह भारत पावन था। हे पतित-पावन आओ, यह तो बहुत समय से बुलाते आये हैं। उनको यह पता नहीं कि पतित दुनिया कब पूरी होगी। कहते हैं – शास्त्रों में ऐसे लिखा हुआ है कि अभी 40 हजार वर्ष और कलियुग (पतित दुनिया) चलेगी। बिल्कुल ही घोर अन्धियारे में हैं। अभी तुम रोशनी में हो। बाप ने तुमको अब रोशनी में लाया है। यह 5 हजार वर्ष में सृष्टि का चक्र पूरा होता है। कल की बात है। तुम राज्य करते थे, बरोबर इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, स्वर्ग था। पावन दुनिया में कोई उपद्रव आदि हो नहीं सकता। उपद्रव होता ही है रावण राज्य में। यहाँ तुमको बाप समझाते हैं, तुम सम्मुख कानों से सुनते हो। कौन सुनते हैं? आत्मा। आत्मा को बड़ी खुशी होती है, हमको बाप फिर से आकर मिला है। बाप से वर्सा लिया था, अब बाप कहते हैं – मुझे याद करो। इसमें कोई लिखने-पढ़ने की बात नहीं। जब कोई आते हैं तो पूछा जाता है – आपका कैसे आना हुआ? तो कहेंगे यहाँ के महात्मा से मिलने? क्यों? तुमको क्या चाहिए? बताओ कोई भिक्षा चाहिए? संन्यासी हो तो रोटी टुकड़ा चाहिए। संन्यासी किसके पास जाते हैं वा रास्ते में मिलते हैं तो रिलीजस मनुष्य समझते हैं यह फिर भी पवित्र मनुष्य हैं, इनको भोजन खिलाना अच्छा है। अभी तो पवित्रता भी नहीं रही है। बिल्कुल ही तमोप्रधान दुनिया है, इसमें बड़ी गन्दगी है। मनुष्य कितना हैरान होते हैं। यहाँ तो हैरान होने की कोई बात नहीं। बाप कहते हैं लिखने करने की भी बात नहीं है। यह प्वाइंट्स आदि भी लिखते हैं – धारणा करने के लिए। जैसे डॉक्टर लोगों के पास भी कितनी दवाइयाँ होती हैं, इतनी सब दवाइयाँ याद रहती हैं। बैरिस्टर की बुद्धि में कितनी लॉ की बातें याद रहती हैं। तुमको याद क्या करना है एक बात, सो भी बड़ी सहज है। तुम कहते हो एक शिवबाबा को याद करो। वह कहते हैं शिवबाबा कैसे आयेंगे। यह भी तुम्हारे सिवाए और किसको पता नहीं है। ईश्वर कहाँ है? वह तो कहेंगे नाम-रूप से न्यारा है या फिर कह देते हैं सर्वव्यापी है। रात-दिन का फ़र्क हो जाता है – दोनों अक्षर में। नाम-रूप से न्यारी तो कोई चीज़ है नहीं। फिर कह देते – कुत्ते, बिल्ली सबमें परमात्मा है। दोनों एक-दो के अपोजिट बातें हो गई। तो बाप अपना परिचय दे कहते हैं – मुझ बाप को याद करो। गाया भी जाता है – सहज राजयोग। बाबा कहते हैं – योग का अक्षर निकाल दो, याद करो। जैसे छोटा बच्चा माँ बाप को देखने से ही झट गले लग जाता है। पहले सोच करेगा क्या कि हमारे माँ बाप हैं? नहीं, इसमें सोच करने की बात ही नहीं। तुम्हें भी सिर्फ शिवबाबा को याद करना है। भक्ति मार्ग में भी तुम शिव पर फूल चढ़ाते आये हो। सोमनाथ का मन्दिर कितना भारी बनाया हुआ है, जो बाद में मुहम्मद गजनवी ने आकर लूटा था। सोमनाथ का मन्दिर भारत में नामीग्रामी है। सबसे पहले तो शिव की पूजा होनी चाहिए। बच्चों को यह सब नॉलेज अभी बुद्धि में आई है। भल पूजा आदि करते आये हो परन्तु तुमको यह पता ही नहीं था कि यह जड़ चित्र हैं। जरूर चैतन्य में आया होगा तब तो वर्ष-वर्ष शिव जयन्ती भी मनाते हैं। यह भी कहते हैं – शिव परमात्मा निराकार है। आत्मा जानती है हम भी निराकार हैं। अभी तुम आत्म-अभिमानी बनते हो, बहुत सहज है। वह तो हमारा बाबा है। ज्ञान का सागर, सुख का सागर, पतित-पावन है। उनकी बहुत महिमा है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर की इतनी महिमा नहीं है। एक की ही महिमा गाते हैं। अब तुम बच्चे जानते हो – बाबा आकर हमको वर्सा दे रहे हैं। जैसे लौकिक बाप बच्चों का लालन-पालन करते हैं, पढ़ाते नहीं हैं। पढ़ाई के लिए स्कूल में जाते हैं फिर वानप्रस्थ में गुरू किया जाता है। आजकल तो छोटे-बड़े सबको गुरू करा देते हैं। यहाँ तो तुम बच्चों को कहा जाता है – शिवबाबा को याद करो, सबका हक है। सब मेरे बच्चे हैं। तुम्हारे में भी कोई हैं जो अच्छी रीति याद करते हैं। कई तो कहते हैं – बाबा, किसको याद करें? बिन्दी को कैसे याद करें? बड़ी चीज़ को याद किया जाता है। अच्छा परमात्मा, जिसको तुम याद करते हो, वह चीज़ क्या है? तो कह देते अखण्ड ज्योति स्वरूप है। परन्तु ऐसे नहीं है। अखण्ड ज्योति को याद करना रांग हो जाता है। याद तो एक्यूरेट चाहिए। पहले एक्यूरेट जानना चाहिए। बाप ही आकर अपना परिचय देते हैं, और फिर बच्चों को सारे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का समाचार भी सुनाते हैं। डिटेल में भी तो नटशेल में भी। अब बाप कहते हैं बच्चे तुमको पावन बनना है तो उसके लिए एक ही उपाए है – मुझे याद करो, मुझे कहते ही हो पतित-पावन। आत्मा को पावन बनाना है। आत्मा ही कहती है हम पतित बन गये हैं। हम पावन थे, अब पतित हैं। सब तमोप्रधान हैं। हर एक चीज़ पहले सतोप्रधान फिर तमोप्रधान होती है। आत्मा खुद कहती है मैं पतित बनी हूँ, मुझे पावन बनाओ। शान्तिधाम में पतित होते नहीं। यहाँ पतित हैं तो दु:खी हैं। जब पावन थे तो सुखी थे। तो आत्मा ही कहती है – हमको पावन बनाओ तो हम दु:ख से छूट जायें। तुम समझते हो आत्मा ही सब कुछ करती है। आत्मा ही जज, बैरिस्टर आदि बनती है। आत्मा ही कहती है – मैं राजा हूँ, मैं फलाना हूँ। अभी यह शरीर छोड़ दूसरा लेना है। इसको कहा जाता है आत्म-अभिमानी। देह होते आत्म-अभिमानी। रावण के राज्य में देह-अभिमानी होते हैं। आत्म-अभिमानी अभी ही बाप बनाते हैं। इस समय आत्मा पतित दु:खी है तो पुकारती है हे बाबा आओ। यह भी तुम जानते हो ड्रामा प्लैन अनुसार पतित से पावन, पावन से पतित बनते आये हैं। चक्र फिरता ही रहता है। अभी तुम्हारी बुद्धि में बैठा है, हमारे 84 जन्म कैसे हुए हैं। अभी यह बात भूलो मत। स्वदर्शन चक्रधारी हो रहो। उठते-बैठते, चलते-फिरते बुद्धि में हमको सारी नॉलेज है। तुम समझते हो बेहद के बाप से हम बेहद का वर्सा ले रहे हैं। बाप बच्चों को समझाते हैं कि तुमको एक बाप को ही याद करना है। बाप को याद करना, रोटी टुकड़ खाना है। बस।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों को बाप घड़ी-घड़ी कहते हैं – बच्चे पेट के लिए सिर्फ रोटी टुकड़ खाना है। पेट कोई जास्ती खाता नहीं है। एक पाव आटे का खाता है। दाल रोटी बस, 10 रूपये में भी मनुष्य पेट भरता है तो 10 हजार में भी पेट पालते हैं। गरीब लोग खाते भी क्या हैं। फिर भी हट्टे कट्टे रहते हैं। भिन्न-भिन्न चीज़ें मनुष्य खाते हैं तो और ही बीमार पड़ जाते हैं। डॉक्टर लोग भी कहते हैं – एक प्रकार का खाना खाओ तो बीमार नहीं होंगे। तो बाप भी समझाते हैं – रोटी टुकड़ खाओ। जो मिले उसमें खुश रहो। दाल-रोटी जैसी और कोई चीज़ होती नहीं। जास्ती लालच भी नहीं रहनी चाहिए। संन्यासी लोग क्या करते हैं? घरबार छोड़ जंगल में चले जाते हैं। तत्व को परमात्मा समझ याद करते हैं, समझते हैं ब्रह्म में लीन हो जायेंगे। परन्तु ऐसे तो है नहीं। आत्मा तो अमर है। लीन होने की बात नहीं है। बाकी आत्मा पवित्र, अपवित्र बनती है। तुमको कितना अच्छा ज्ञान मिला है। तुम ही प्रालब्ध भोगते हो फिर यह ज्ञान भूल जाता है। फिर सीढ़ी उतरनी होती है। अब तुम्हारी बुद्धि में सारा ज्ञान बैठा हुआ है। हम 84 जन्म कैसे भोगते हैं। यह पार्ट कभी भी कोई का बन्द नहीं होता है। यह बना बनाया ड्रामा है जो फिरता ही रहता है। यह कह नहीं सकते कि भगवान ने कब, कैसे, कहाँ बैठ बनाया? नहीं। यह तो चला ही आता है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती ही रहती है। इन बातों को कोई समझते ही नहीं हैं। तुम जानते हो – हम ड्रामा प्लैन अनुसार आये हैं। अब फिर से ड्रामा अनुसार राज्य ले रहे हैं। यह बातें और कोई समझ नहीं सकते। पूछा जाता है – ड्रामा सर्वशक्तिमान् है वा ईश्वर? तो कहते हैं ईश्वर सर्वशक्तिमान् हैं। समझते हैं वह सब कुछ कर सकते हैं। बाप कहते हैं – मैं भी ड्रामा के बन्धन में बाँधा हुआ हूँ। पतितों को पावन बनाने मुझे आना पड़ता है। तुम सतयुग में सुखी बन जाते हो। मैं भी जाकर विश्रामी होता हूँ – परमधाम में। तुम सिर-कुल्हे चढ़ जाते हो। तुम्हारी शेर पर सवारी है।

तुम जानते हो सेकेण्ड बाई सेकेण्ड जो भी चलता है वह ड्रामा की नूँध है। तुम बच्चों को कितनी अच्छी नॉलेज है। अब सिर्फ बाप और वर्से को याद करो। बस। कागज, पेन्सिल आदि की कोई दरकार नहीं है। ब्रह्मा बाबा भी पढ़ते हैं, यह तो कुछ रखते ही नहीं हैं। सिर्फ बाप को याद करना है तो वर्सा मिलेगा। कितना सहज है। याद से तुम एवरहेल्दी बनेंगे। यह है धारणा की बात। लिखने से क्या फायदा होगा, यह तो सब विनाश हो जायेगा। परन्तु कोई याद रखने के लिए लिखते हैं। जैसे कोई बात याद करनी होती है तो गाँठ बाँध देते हैं। तुम भी गाँठ बाँध लो, शिवबाबा और वर्से को याद करना है। यह तो बहुत सहज है – योग अर्थात् याद। कहते हैं – बाबा याद नहीं ठहरती। योग में कैसे बैठें? अरे लौकिक बाप की याद उठते-बैठते, चलते-फिरते रहती है, तुम भी सिर्फ याद करो। बस, बेड़ा पार है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वदर्शन चक्रधारी बन 84 का चक्र बुद्धि में फिराते रहना है। बेहद बाप को याद कर बेहद का वर्सा लेना है, पावन बनना है।

2) किसी भी चीज़ की लालच नहीं करनी है, जो मिले उसमें खुश रहना है। रोटी-टुकड़ खाना है, बाप की याद में रहना है।

वरदान:- बुद्धि रूपी पांव मर्यादा की लकीर के अन्दर रखने वाले सर्व प्राप्ति सम्पन्न शक्तिशाली भव
जो बच्चे बुद्धि रूपी पांव जरा भी मर्यादा की लकीर से बाहर नहीं निकालते वे लक्की और लवली बन जाते हैं। उन्हें कभी कोई भी विघ्न अथवा तूफान, परेशानी, उदासी आ नहीं सकती। यदि आती है तो समझना चाहिए कि जरूर बुद्धि रूपी पांव मर्यादा की लकीर से बाहर निकाला है। लकीर से बाहर निकलना अर्थात् फकीर बनना इसलिए कभी फकीर अर्थात् मांगने वाले नहीं, सर्व प्राप्ति सम्पन्न शक्तिशाली बनो।
स्लोगन:- जो सदा न्यारे और बाप के प्यारे हैं वह सेफ रहते हैं।

TODAY MURLI 3 MAY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 3 May 2020

03/05/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
06/01/86

The confluence age – the age to accumulate

Today, Trikaldarshi BapDada, the One who knows all the three aspects of time of all the children, is seeing the accounts of accumulation of all the children. You all know that, throughout the whole cycle, the only time to accumulate an elevated account is at this confluence age. It is a short age and a short life. However, the speciality of this age and life is that anyone can accumulate as much as he or she wants at this time. According to the elevated account of this time, you attain the status of being worthy of worship and then, from being worthy of worship you also become a worshipper. It is only at this time that you accumulate an elevated account of elevated actions, elevated knowledge, elevated relationships, elevated powers and elevated virtues. From the copper age onwards, there is the temporary account of devotion in which you do something and you instantly receive the fruit of that and then it is finished. The account of devotion is for a temporary period because you earn it and you then instantly use it. The time to accumulate in your imperishable account so that it continues for birth after birth is now. This is why this elevated time is called the most auspicious age and the age of charity. It is called the age of God’s incarnation. This is remembered as the age in which you receive powers directly from the Father. It is in this age that the Father plays the part of being the Bestower of Fortune and the Bestower of Blessings. This is why this age is called the age of blessings. In this age, because of love, the Father becomes the Innocent Treasurer and He gives you multimillions in return for one. It is only at this time that you receive the special fortune of accumulating multimillions in return for one. In the other ages, there are the accounts of receiving as much you do or give. There is a difference because, at this time, the Father becomes the Instrument to enable you to attain directly, both in the form of an inheritance and also blessings. From devotion, you receive the fruit of your faith and devotion, whereas here you receive the fruit of the inheritance and blessings. Therefore, do you continue to take every step whilst being trikaldarshi and knowing the importance of this time, knowing the attainments and knowing the account of accumulation? Do you know how elevated even one second of this time is, compared with ordinary time? Do you know very well the account of how much you can earn in a second and how much you lose in a second? Or, is it that you earn something and lose something in an ordinary way? You are not just wasting such invaluable time, are you? You have become Brahma Kumars and Kumaris, but have you claimed a right to the imperishable inheritance and the special blessings? Those who have a right at this time claim a right for birth after birth. At this time a soul who remains dependent on any type of nature, sanskar or relationship becomes one who has a right to the status of a subject instead of having a right to a kingdom, for birth after birth. Such a soul does not have a right to a kingdom, but becomes one who has a right to the status of a subject. You have come here to become Raja Yogis, those who have a right to a kingdom. However, instead of that, because of the sanskar of being dependent, even though you are the children of the Bestower of Fortune, you are not able to claim a right to the kingdom. Therefore, always check to what extent you have become one who has a right over the self. How can someone who hasn’t been able to attain a right over the self be able to claim the kingdom of the world? It is by becoming a self-sovereign at this time that you can prepare a living model of one who has a right to the kingdom of the world. When you invent something, you first prepare a model of it, don’t you? Therefore, first of all, look at this model.

To be a self-sovereign, the master of oneself means to be the king of all your physical organs – your subjects. Do the subjects rule or does the king? You can know this, can you not? If the subjects are ruling, you cannot be called a king. In the rule of the subjects, the dynasty of kings ends. If any one of the physical organs is deceiving you, you cannot be called a master of the self. Never think that there are always one or two weaknesses and that you are going to become perfect by the end. Even one weakness over a long period of time can deceive you at a critical time. The sanskar of being dependent over a long period of time will not allow you to become one with a right. Therefore, to be one with a right means to have a right over the self. Do not be deceived under the impression that you will become perfect by the end. The sanskar of having a right over the self over a long period of time will enable you to have a right to the world over a long period of time. Those who become masters of the self for a short time will become ones who have a right to the kingdom of the world for a short time. Those who are seated on the Father’s heart-throne according to the Father’s order of becoming equal to the Father are the ones who claim a right to the throne of the kingdom. To become equal to the Father means to be seated on the Father’s heart-throne. Just as Father Brahma became perfect and equal, so you too have become perfect and equal. Claim a right to the throne of the kingdom. Do not attain anything less in terms of your right to the inheritance and blessings due to any type of carelessness. Therefore, check your account of accumulation. The New Year has just begun. Check your account of the past and accumulate in your new account with the help of this time and the Father’s blessings. Do not create an account in which you earn and instantly use it. At amrit vela, you have yoga and you accumulate. During class time, you study and you accumulate. Then throughout the day, under the influence of circumstances and situations, under the influence of an attack from Maya or under the influence of your own sanskars, you use it up in becoming victorious whilst battling. So, what was the result? You earned and you consumed it, so what was accumulated? Therefore, always check your account of accumulation and continue to increase it. Similarly, in your chart too, do not just put a tick. Did you attend class? Yes. Did you have yoga? However, was your yoga as powerful as it is supposed to be according to the time? Did you pass your time well? You enjoyed yourself a lot and you created something for the present but, together with the present, did you also accumulate something? Did you have such a powerful experience? Do not just check whether you are moving along. Whenever you ask anyone how they are moving along, they say that they are moving along very well. However, check with what speed you are moving along. Are you moving along at the speed of an ant or at the speed of a rocket? This year, check your speed and the percentage in becoming powerful in everything. To what percentage are you accumulating? If it were five rupees you would say you had accumulated, and if it were 500 rupees, you would also say you had accumulated. So, you accumulated, but how much did you accumulate? Do you understand what you have to do?

You are moving towards the Golden Jubilee. This whole year is the year of the Golden Jubilee, is it not? So, check whether you are golden aged, that is, whether you have a satopradhan stage in every respect, or are you sato, which is the silver-aged stage? Your effort also has to be satopradhan, golden aged. Your service too should be golden aged. Let there not be the slightest alloy of old sanskars. It shouldn’t even be like nowadays where they make silver gold-plated. Externally, it looks like gold, but what is it inside? It would be said to be mixed, would it not? So, do not mix the alloy of arrogance and disrespect in service. This is then called golden-aged service. There shouldn’t even be in your nature any feelings of jealousy, stubbornness or trying to prove yourself right. That is alloy. Finish that alloy and become those with goldenaged natures. Always have the sanskars of “Ha ji”. You have to mould yourself according to the time and service, that is, you have to become real gold. I have to mould myself. If you think that you will mould yourself when others mould themselves, that is being stubborn. That is not real gold. Finish that alloy and become goldenaged. In your relationships, let there always be good wishes and feelings of benevolence for everyone. Let there be feelings of love and co-operation. No matter what type of motive or nature someone has, let your feelings always be elevated. To bring about self-transformation in all of these things is to celebrate the Golden Jubilee. To burn the alloy means to celebrate the Golden Jubilee. Do you understand? Begin the New Year with a goldenaged stage. This is easy, is it not? At the time of hearing this, all of you understand that you have to do this, but when any problem comes in front of you, you think that it is something very difficult. The time when there’s a problem is the time to show your authority as the master of yourself. It is only at the time of an attack that you have to be victorious. It is only at the time of an examination that you have to claim number one. Do not become an embodiment of problems, but become an embodiment of solutions. Do you understand what you have to do this year? Only then will the completion of the Golden Jubilee be called the Golden Jubilee of becoming complete. What other newness will you bring? All the children’s thoughts reach BapDada. What newness will you bring about in the programmes? You have selected the topic of having golden thoughts, have you not? “Golden thoughts and golden ideas that make you into gold and bring about the age of gold”. This is the topic you have selected, is it not? Achcha. Today, there was a chit-chat on this topic in the subtle region. Baba will tell you about that another time. Achcha.

To all the fortunate souls who have a double right to the inheritance and blessings, to the elevated souls who are constant masters of the self, to the real gold children who always stabilise themselves in the goldenaged stage, to the special souls who with their deep love for self-transformation, make progress for world transformation, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Avyakt BapDada meeting the doctors who came for a meeting.

You are engaged in the service of making all souls constantly happy with your elevated zeal and enthusiasm, are you not? The special duty of doctors is to give every soul happiness. The first medicine is happiness. Happiness finishes half the illness. So, spiritual doctors means those who give the medicine of happiness. So, you are such doctors, are you not? If a soul experiences the sparkle of happiness even once, then that soul will constantly continue to fly with the sparkle of happiness. So, you are the doctors who make everyone double-light and make them fly, are you not? Those doctors make them get out of bed. They are able to make patients who are bed-ridden get out of bed and make them walk. You take them away from the old world and sit them in the new world. Have you made such plans? You have made plans to use spiritual instruments, have you not? What is the injection? What are the tablets? What is the blood-transfusion? You have created all these spiritual facilities. If someone needs to be given blood, what spiritual blood will you give him? What medicine will you give a heart patient? A heart patient means a disheartened patient. So you need spiritual material. All the new inventions they create are inventions created with the facilities of science. With the facilities of silence, you make them free from disease for all time. They have a whole list of all the different instruments. In the same way, you too should have a long list. You are such doctors who should have such good facilities to make souls everhealthy. Have you made this your occupation? Have all of you doctors put up such boards at your places for making everyone everhealthy and everwealthy? Just as those people write down their occupations, similarly let there also be this writing so that, as soon as people see it, they can understand what it is and come inside to have a look. It should be an attractive board. The content of the writing should be such that no one can stop himself from coming in for an introduction. The board should be such that there should be no need for you to call them, but they themselves are pulled to come to you even against their wish. Those people write “So-and-so, MBBS”, but you have to have such a board on which you have your spiritual occupation written, through which they realise that this place is necessary. Have you created such a spiritual degree or do you just write your worldly degrees?

(What should be the elevated facilities for service?) The fastest means of service is to do service with powerful thoughts. Let there be powerful thoughts, words and deeds. Let all three work simultaneously. This is a powerful tool. When you come into words, the percentage of powerful thoughts reduces or the percentage remains the same and it makes a difference to the power of words. However, let all three be simultaneous. With a patient, someone would be operating on him and another person would be checking his pulse at the same time. Everything would be happening simultaneously. What would happen if the person operating continued to operate but the one checking the pulse did that later? So many tasks are carried out simultaneously. Similarly, the spiritual tools for service also have to work simultaneously. You have made plans for service and that is very good. However, you have to invent such a facility that everyone understands: “Yes, this spiritual doctor will make them healthy for all time.” Achcha.

BapDada speaking to groups:What would be the signs of those who have been victorious many times? They would feel everything is very easy and light. Those who are not victorious for cycle after cycle would find even a trivial task difficult; they would not find it easy. However, before beginning any task, the others would feel that the task has already been accomplished. They would never question whether it will happen or not. They would always feel that task is already accomplished. They know that they always have success and that they will have victory. Their intellects would have such faith. They would not find anything to be new, they would feel that everything is very old. They would continue to make themselves move along with this awareness.

What are the signs of being doublelightDouble-light souls constantly and easily experience the flying stage. It is not that they sometimes stop and sometimes fly. Only souls who constantly experience being in the flying stage, are such double-light souls who claim a right to a double crown. Double-light souls automatically experience the highest stage. Whenever any situation arises, remember that you are double-light. To become children means you become light. You cannot carry any burdens. Achcha.

Blessing: May you be a master bestower and experience the stage of having pure and positive thoughts for yourself and others, like Father Brahma.
In order to become a master bestower, like Father Brahma, remain free from three things – jealousy, dislike and being critical – and have pure and positive thoughts for all and experience the stage of having only pure and positive thoughts. This is because those who have the fire of jealousy in them burn themselves and also cause distress for others. Those who have dislike fall and also make others fall and those who even jokingly criticise others make others lose courage and make them unhappy. Therefore, remain free from all these three things and experience the stage of having pure and positive thoughts and become a master bestower, a child of the Bestower.
Slogan: Those who have total sovereignty over their minds, intellects and sanskars are masters of the self, self-sovereigns.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 3 MAY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 May 2020

Murli Pdf for Print : – 

03-05-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 06-01-86 मधुबन

संगमयुग-जमा करने का युग

आज सर्व बच्चों के तीनों काल को जानने वाले त्रिकालदर्शी बापदादा सभी बच्चों के जमा का खाता देख रहे हैं। यह तो सभी जानते ही हो कि सारे कल्प में श्रेष्ठ खाता जमा करने का समय सिर्फ यही संगमयुग है। छोटा-सा युग, छोटी-सी जीवन है। लेकिन इस युग, इस जीवन की विशेषता है जो अब ही जितना जमा करने चाहें वह कर सकते हैं। इस समय के श्रेष्ठ खाते के प्रमाण पूज्य पद भी पाते हो और फिर पूज्य सो पुजारी भी बनते हो। इस समय के श्रेष्ठ कर्मों का, श्रेष्ठ नॉलेज का, श्रेष्ठ सम्बन्ध का, श्रेष्ठ शक्तियों का, श्रेष्ठ गुणों का सब श्रेष्ठ खाते अभी जमा करते हो। द्वापर से भक्ति का खाता अल्पकाल का अभी-अभी किया, अभी-अभी फल पाया और खत्म हुआ। भक्ति का खाता अल्पकाल का इसलिए है- क्योंकि अभी कमाया और अभी खाया। जमा करने का अविनाशी खाता जो जन्म-जन्म चलता रहे वह अविनाशी खाते जमा करने का अभी समय है इसलिए इस श्रेष्ठ समय को पुरुषोत्तम युग या धर्माऊ युग कहा जाता है। परमात्म अवतरण युग कहा जाता है। डायरेक्ट बाप द्वारा प्राप्त शक्तियों का युग यही गाया हुआ है। इसी युग में ही बाप विधाता और वरदाता का पार्ट बजाते हैं इसलिए इस युग को वरदानी युग भी कहा जाता है। इस युग में स्नेह के कारण बाप भोले भण्डारी बन जाते हैं। जो एक का पदमगुणा फल देता है। एक का पदमगुणा जमा होने का विशेष भाग्य अभी ही प्राप्त होता है। और युगों में जितना और उतना का हिसाब है। अन्तर हुआ ना क्योंकि अभी डायरेक्ट बाप वर्से और वरदान दोनों रूप में प्राप्ति कराने के निमित्त हैं। भक्ति में भावना का फल है, अभी वर्से और वरदान का फल है इसलिए इस समय के महत्व को जान, प्राप्तियों को जान, जमा के हिसाब को जान, त्रिकालदर्शी बन हर कदम उठाते रहते हो? इस समय का एक सेकण्ड कितने साधारण समय से बड़ा है – वह जानते हो? सेकण्ड में कितना कमा सकते हो और सेकण्ड में कितना गंवाते हो? यह अच्छी तरह से हिसाब जानते हो? वा साधारण रीति से कुछ कमाया कुछ गंवाया। ऐसा अमूल्य समय समाप्त तो नहीं कर रहे हो? ब्रह्माकुमार ब्रह्माकुमारी तो बने लेकिन अविनाशी वर्से और विशेष वरदानों के अधिकारी बने? क्योंकि इस समय के अधिकारी जन्म-जन्म के अधिकारी बनते हैं। इस समय के किसी न किसी स्वभाव वा संस्कार वा किसी सम्बन्ध के अधीन रहने वाली आत्मा जन्म-जन्म अधिकारी बनने के बजाए प्रजा पद के अधिकारी बनते हैं। राज्य अधिकारी नहीं। प्रजा पद अधिकारी बनते हैं। बनने आये हैं राजयोगी, राज्य अधिकारी लेकिन अधीनता के संस्कार कारण विधाता के बच्चे होते हुए भी राज्य अधिकारी नहीं बन सकते इसलिए सदा यह चेक करो स्व अधिकारी कहाँ तक बने हैं? जो स्व अधिकार नहीं पा सकते वो विश्व का राज्य कैसे प्राप्त करेंगे? विश्व के राज्य अधिकारी बनने का चैतन्य माडल, अभी स्व राज्य अधिकारी बनने से तैयार करते हो। कोई भी चीज़ का पहले माडल तैयार करते हो ना। तो पहले इस माडल को देखो।

स्व अधिकारी अर्थात् सर्व कर्मेन्द्रियों रूपी प्रजा के राजा बनना। प्रजा का राज्य है या राजा का राज्य है? यह तो जान सकते हो ना! प्रजा का राज्य है तो राजा नहीं कहलायेंगे। प्रजा के राज्य में राजवंश समाप्त हो जाता है। कोई भी एक कर्मेन्द्रिय धोखा देती है तो स्व राज्य अधिकारी नहीं कहेंगे। ऐसे भी कभी नहीं सोचना कि एक दो कमजोरी तो होती ही हैं। सम्पूर्ण तो लास्ट में बनना है। लेकिन बहुत काल की एक कमजोरी भी समय पर धोखा दे देती है। बहुत काल के अधीन बनने के संस्कार अधिकारी बनने नहीं देंगे इसलिए अधिकारी अर्थात् स्व अधिकारी। अन्त में सम्पूर्ण हो जायेंगे, इस धोखे में नहीं रह जाना। बहुत काल का स्व अधिकार का संस्कार बहुत काल के विश्व अधिकारी बनायेगा। थोड़े समय के स्व राज्य अधिकारी थोड़े समय के लिए ही विश्व राज्य अधिकारी बनेंगे। जो अभी बाप की समानता की आज्ञा प्रमाण बाप के दिलतख्तनशीन बनते हैं वो ही राज्य तख्तनशीन बनते हैं। बाप समान बनना अर्थात् बाप के दिल तख्तनशीन बनना। जैसे ब्रह्मा बाप सम्पन्न और समान बने ऐसे सम्पूर्ण और समान बनो। राज्य तख्त के अधिकारी बनो। किसी भी प्रकार के अलबेलेपन में अपना अधिकार का वर्सा वा वरदान कम नहीं प्राप्त करना। तो जमा का खाता चेक करो। नया वर्ष शुरू हुआ है ना। पिछला खाता चेक करो और नया खाता समय और बाप के वरदान से ज्यादा से ज्यादा जमा करो। सिर्फ कमाया और खाया, ऐसा खाता नहीं बनाओ! अमृतवेले योग लगाया जमा किया। क्लास में स्टडी कर जमा किया और फिर सारे दिन में परिस्थितियों के वश वा माया के वार के वश वा अपने संस्कारों के वश जो जमा किया वह युद्ध करते विजयी बनने में खर्च किया। तो रिजल्ट क्या निकली? कमाया और खाया, जमा क्या हुआ? इसलिए जमा का खाता सदा चेक करो और बढ़ाते चलो। ऐसे ही चार्ट में सिर्फ राइट नहीं करो। क्लास किया? हां। योग किया? लेकिन जैसे शक्तिशाली योग समय के प्रमाण होना चाहिए वैसे रहा? समय अच्छा पास किया, बहुत आनन्द आया, वर्तमान तो बना लेकिन वर्तमान के साथ जमा भी किया? इतना शक्तिशाली अनुभव किया? चल रहे हैं, सिर्फ यह चेक नहीं करो। किसी से भी पूछो कैसे चल रहे हो? तो कह देते बहुत अच्छे चल रहे हैं। लेकिन किस स्पीड में चल रहे हैं, यह चेक करो। चींटी की चाल चल रहे हैं वा राकेट की चाल चल रहे हैं? इस वर्ष सभी बातों में शक्तिशाली बनने की स्पीड को और परसेन्टेज को चेक करो। कितनी परसेन्टेज में जमा कर रहे हो? 5 रूपया भी कहेंगे जमा हुआ। 500 रूपया भी कहेंगे जमा हुआ! जमा तो किया लेकिन कितना किया? समझा क्या करना है।

गोल्डन जुबली की ओर जा रहे हो- यह सारा वर्ष गोल्डन जुबली का है ना! तो चेक करो हर बात में गोल्डन एजड अर्थात् सतोप्रधान स्टेज है? वा सतो अर्थात् सिलवर एजड स्टेज है? पुरुषार्थ भी सतोप्रधान गोल्डन एजड हो। सेवा भी गोल्डन एजड हो। जरा भी पुराने संस्कार का अलाए (खाद) नहीं हो। ऐसे नहीं जैसे आजकल चांदी के ऊपर भी सोने का पानी चढ़ा देते हैं। बाहर से तो सोना लगता है लेकिन अन्दर क्या होता है? मिक्स कहेंगे ना! तो सेवा में भी अभिमान और अपमान का अलाए मिक्स न हो। इसको कहा जाता है गोल्डन एजड सेवा। स्वभाव में भी ईर्ष्या, सिद्ध और ज़िद का भाव न हो। यह है अलाए। इस अलाए को समाप्त कर गोल्डन एजड स्वभाव वाले बनो। संस्कार में सदा हाँ जी। जैसा समय, जैसी सेवा वैसे स्वयं को मोल्ड करना है अर्थात् रीयल गोल्ड बनना है। मुझे मोल्ड होना है। दूसरा करे तो मैं करूँ यह जिद्द हो जाती है। यह रीयल गोल्ड नहीं! यह अलाए समाप्त कर गोल्डन एजड बनो। सम्बन्ध में सदा हर आत्मा के प्रति शुभ भावना, कल्याण की भावना हो। स्नेह की भावना हो, सहयोग की भावना हो। कैसे भी भाव स्वभाव वाला हो लेकिन आपका सदा श्रेष्ठ भाव हो। इन सब बातों में स्व-परिवर्तन ही गोल्डन जुबली मनाना है। अलाए को जलाना अर्थात् गोल्डन जुबली मनाना। समझा – वर्ष का आरम्भ गोल्डन एजड स्थिति से करो। सहज है ना। सुनने के समय तो सब समझते हैं कि करना ही है लेकिन जब समस्या सामने आती तब सोचते यह तो बड़ी मुश्किल बात है। समस्या के समय स्व राज्य अधिकारीपन का अधिकार दिखाने का ही समय होता है। वार के समय ही विजयी बनना होता है। परीक्षा के समय ही नम्बरवन लेने का समय होता है। समस्या स्वरूप नहीं बनो लेकिन समाधान स्वरूप बनो। समझा – इस वर्ष क्या करना है? तब गोल्डन जुबली की समाप्ति सम्पन्न बनने की गोल्डन जुबली कही जायेगी। और क्या नवीनता करेंगे? बाप दादा के पास सभी बच्चों के संकल्प तो पहुंचते ही हैं। प्रोग्राम में भी नवीनता क्या करेंगे? गोल्डन थाट्स सुनाने की टापिक रखी है ना। सुनहरे संकल्प, सुनहरे विचार, जो सोना बना दें और सोने का युग लावें। यह टापिक रखी है ना। अच्छा- आज वतन में इस विषय पर रूह-रूहान हुई वो फिर सुनायेंगे। अच्छा –

सर्व वर्से और वरदान के डबल अधिकारी भाग्यवान आत्माओं को, सदा स्वराज्य अधिकारी श्रेष्ठ आत्माओं को, सदा स्वयं को गोल्डन एजड स्थिति में स्थित करने वाले रीयल गोल्ड बच्चों को, सदा स्व परिवर्तन की लगन से विश्व परिवर्तन में आगे बढ़ने वाले विशेष आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

मीटिंग में आये हुए डाक्टर्स से – अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

अपने श्रेष्ठ उमंग उत्साह द्वारा अनेक आत्माओं को सदा खुश बनाने की सेवा में लगे हुए हो ना। डाक्टर्स का विशेष कार्य ही है हर आत्मा को खुशी देना। पहली दवाई खुशी है। खुशी आधी बीमारी खत्म कर देती है। तो रूहानी डाक्टर्स अर्थात् खुशी की दवाई देने वाले। तो ऐसे डाक्टर हो ना। एक बार भी खुशी की झलक आत्मा को अनुभव हो जाए तो वह आत्मा सदा खुशी की झलक से आगे उड़ती रहेगी। तो सभी को डबल लाइट बनाए उड़ाने वाले डाक्टर्स हो ना। वह बेड से उठा देते हैं। बेड में सोने वाले पेशेन्ट को उठा देते हैं, चला देते हैं। आप पुरानी दुनिया से उठाए नई दुनिया में बिठा दो। ऐसे प्लैन बनाये हैं ना। रूहानी इनस्ट्रुमेन्टस यूज़ करने का प्लैन बनाया है? इन्जेक्शन क्या है, गोलियां क्या हैं, ब्लड देना क्या है। यह सब रूहानी साधन बनाये हैं! किसको ब्लड देने की आवश्यकता है तो रूहानी ब्लड कौन-सा देना है? हार्ट पेशेन्ट को कौन-सी दवाई देनी है? हार्ट पेशेन्ट अर्थात् दिलशिकस्त पेशेन्ट। तो रूहानी सामग्री चाहिए। जैसे वह नई-नई इन्वेन्शन करते हैं, वो साइन्स के साधन से इन्वेन्शन करते हैं। आप साइलेन्स के साधनों से सदाकाल के लिए निरोगी बना दो। जैसे उन्हों के पास सारी लिस्ट है – यह इन्स्ट्रुमेन्ट हैं, यह इन्स्ट्रुमेन्ट है। ऐसे ही आपकी भी लिस्ट हो लम्बी। ऐसे डाक्टर्स हो। एवरहेल्दी बनाने के इतने बढ़िया साधन हों। ऐसे आक्युपेशन अपना बनाया है? सभी डाक्टर्स ने अपने-अपने स्थान पर ऐसा बोर्ड लगाया है एवरहेल्दी एवरवेल्दी बनने का? जैसे अपने वह आक्युपेशन लिखते हो ऐसे ही यह लिखत हो जिसे देखकर समझें कि यह क्या है – अन्दर जाकर देखे। आकर्षण करने वाला बोर्ड हो। लिखत ऐसी हो जो परिचय लेने के बिना कोई रह न सके। वैसे बुलाने की आवश्यकता न हो लेकिन स्वयं ही आपके आगे न चाहते भी पहुंच जाएं, ऐसा बोर्ड हो। वह तो लिखते हैं एम. बी. बी. एस., फलाने-फलाने आप फिर अपना ऐसा बोर्ड पर रूहानी आक्युपेशन लिखो जिससे वह समझें कि यह स्थान जरूरी है। ऐसी अपनी रूहानी डिग्री बनाई है या वो ही डिग्रियां लिखते हो?

(सेवा का श्रेष्ठ साधन क्या होना चाहिए) सेवा का सबसे तीखा साधन है – समर्थ संकल्प से सेवा। समर्थ संकल्प भी हों, बोल भी हों और कर्म भी हों। तीनों साथ-साथ कार्य करें। यही शक्तिशाली साधन है। वाणी में आते हो तो शक्तिशाली संकल्प की परसेन्टेज कम हो जाती है या वह परसेन्टेज होती है तो वाणी की शक्ति में फर्क पड़ जाता है। लेकिन नहीं। तीनों ही साथ-साथ हों। जैसे कोई भी पेशेन्ट को एक ही साथ कोई नब्ज देखता है, कोई आपरेशन करता है… इकट्ठा-इकट्ठा करते हैं। नब्ज देखने वाला पीछे देखे और आपरेशन वाला पहले कर ले तो क्या होगा? इकट्ठा-इकट्ठा कितना कार्य चलता है। ऐसे ही रूहानियत के भी सेवा के साधन इकट्ठा-इकट्ठा साथ-साथ चलें। बाकी सेवा के प्लैन बनाये हैं, बहुत अच्छा। लेकिन ऐसा कोई साधन बनाओ जो सभी समझे कि हाँ यह रूहानी डाक्टर सदा के लिए हेल्दी बनाने वाले हैं। अच्छा।

पार्टियों से:- 1- जो अनेक बार विजयी आत्मायें हैं, उन्हों की निशानी क्या होगी? उन्हें हर बात बहुत सहज और हल्की अनुभव होगी। जो कल्प-कल्प की विजयी आत्मायें नहीं उन्हें छोटा-सा कार्य भी मुश्किल अनुभव होगा। सहज नहीं लगेगा। हर कार्य करने के पहले स्वयं को ऐसे अनुभव करेंगे जैसे यह कार्य हुआ ही पड़ा है। होगा या नहीं होगा, यह क्वेश्चन नहीं उठेगा। हुआ ही पड़ा है, यह महसूसता सदा रहेगी। पता है सदा सफलता है ही, विजय है ही- ऐसे निश्चयबुद्धि होंगे। कोई भी बात नई नहीं लगेगी, बहुत पुरानी बात है। इसी स्मृति से स्वयं को आगे बढ़ाते रहेंगे।

2- डबल लाइट बनने की निशानी क्या होगी? डबल लाइट आत्मायें सदा सहज उड़ती कला का अनुभव करती है। कभी रूकना और कभी उड़ना ऐसे नहीं। सदा उड़ती कला के अनुभवी ऐसी डबल लाइट आत्मायें ही डबल ताज के अधिकारी बनती हैं। डबल लाइट वाले स्वत: ही ऊंची स्थिति का अनुभव करते हैं। कोई भी परिस्थिति आवे, याद रखो हम डबल लाइट हैं। बच्चे बन गये अर्थात् हल्के बन गये। कोई भी बोझ नहीं उठा सकते। अच्छा – ओम् शान्ति।

वरदान:- शुभचिंतन और शुभचिंतक स्थिति के अनुभव द्वारा ब्रह्मा बाप समान मास्टर दाता भव
ब्रह्मा बाप समान मास्टर दाता बनने के लिए ईर्ष्या, घृणा और क्रिटिसाइज़ – इन तीन बातों से मुक्त रहकर सर्व के प्रति शुभचिंतक बनो और शुभचिंतन स्थिति का अनुभव करो क्योंकि जिसमें ईर्ष्या की अग्नि होती है वे स्वयं जलते हैं, दूसरों को परेशान करते हैं, घृणा वाले खुद भी गिरते हैं दूसरे को भी गिराते हैं और हंसी में भी क्रिटिसाइज करने वाले, आत्मा को हिम्मतहीन बनाकर दु:खी करते हैं इसलिए इन तीनों बातों से मुक्त रह शुभचिंतक स्थिति के अनुभव द्वारा दाता के बच्चे मास्टर दाता बनो।
स्लोगन:- मन-बुद्धि और संस्कारों पर सम्पूर्ण राज्य करने वाले स्वराज्य अधिकारी बनो।

TODAY MURLI 3 MAY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 3 May 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 2 May 2019 :- Click Here

03/05/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the basis of remembrance is love. If your love is lacking, your remembrance cannot be constant and if your remembrance is not constant, you cannot receive love.
Question: What is it that souls love the most and what is the sign of that?
Answer: Souls love their bodies the most. They have so much love for their bodies that they do not want to leave them. They continue to try and find many different ways to save them. The Father says: Those are dirty, tamopradhan bodies. You now have to take new bodies and you must therefore remove your attachment from those old bodies. For you, not to have any awareness of your body is your destination.

Om shanti. The spiritual Father explains to you spiritual children. You children know that the deity sovereignty has been inaugurated. Preparations are now taking place to go there. When a branch is opened, people try to get an important person to do the opening. When all the officers of a lower level see an important person, they would all come. For instance, if the Governor comes, then all the senior ministers etc. will come. If you just invite a collector, important people do not come. This is why you have to try to get someone higher up to come. If he comes inside due to any reason, you can show him the path. Show him how you are receiving your unlimited inheritance from the unlimited Father. Apart from you Brahmins, no human beings would know this. You don’t have to tell him directly that God has come. Many say, “God has come”; but no! There are many who call themselves God in that way. You have to explain that the unlimited Father has come and that He is giving the unlimited inheritance as He did in the previous cycle, according to the dramaplan. You have to write this whole line. When people read this writing, they will try to come, and those who have it in their fortune will come. You children know that you are receiving the unlimited inheritance from the unlimited Father. Only the children whose intellects have faith come here. While their intellects have faith, they sometimes become those whose intellects have doubts. Maya makes them fall. While moving along, they become defeated. It is not the law that only one side is always victorious and are never defeated; there is always both victory and defeat. In a battle, too, there are all three types: firstclass, second class and third class. Sometimes, those who don’t fight also go to see the fight. That is allowed, because perhaps they may become coloured and become part of the army. The world does not know that you are maharathi warriors. However, you don’t have any weapons etc. in your hands. Weapons would not seem right in your hands, but the Father explains that there is the sword of knowledge. They have then understood that to be something physical. You children have been given weapons of knowledge by the Father. There is no question of violence in this, but people don’t understand this and so they have given physical weapons to the deities. They have depicted them as violent. That is total senselessness. The Father knows very well those who are going to become flowers. The Father Himself says: The flowers should be at the front. It is certain that this one is going to become a flower. Baba doesn’t mention any names. Otherwise, others would ask: Will I become a thorn? When Baba asks who will become Narayan from an ordinary man, each one raises his or her hand. Each one can understand for the self that those who do a lot of service also remember the Father. Since they also have a lot of love for the Father, they will be able to remember Him. No one would be able to have constant remembrance. It is because there is no remembrance that you are unable to have love. Something that is loved is also remembered a lot. Parents pick up lovely children and sit them in their laps. Little children are flowers. Just as you children desire to go to Shiv Baba, so, little children also pull Him. He would instantly pick up little children, sit them in His lap and give them love. This unlimited Father is very lovely. He fulfils all your pure desires. What do human beings want? Firstly, they want good health so that they never fall ill. This good health is the best of all. If one has good health but no money, then, of what use is that good health? They want money through which they can receive happiness. The Father says: You are definitely going to receive both health and wealth. This is not anything new. This is something very old. This is what you say when you meet. You wouldn’t say that it is hundreds of thousands of years or millions of years ago. No, you know when this world becomes new and when it becomes old. We souls go to the new world and then go into the old world. You are given the name “allrounders“. The Father has explained that you are all-rounders. While playing your parts, you have now reached the end of many births. You are the first ones to come and play your parts. That is the sweet silence home. People are so distressed looking for peace. They don’t understand that they were in the land of peace and that they have come from there to play their parts. Now that those parts have ended, we will definitely go back to where we came from. Everyone comes from the land of peace. Everyone’s home is Brahmlok, Brahmand, where all souls reside. They make a very big egg-shaped Rudra. They don’t know that souls are very tiny. They say that it is like a star, but it is a big image that is worshipped. You know that such a tiny point cannot be worshipped. So, what would they worship? This is why they make a larger image and worship it and pour milk over it. In fact, Shiva is Abhogta (One who doesn’t experience the fruit of anything). So, why do they offer Him milk? If He were to drink that milk, He would become one who experiences everything. This too is a wonder. Everyone says: He is my Heir and I am His heir because we have sacrificed ourselves to Him. Just as a father surrenders himself to his child, leaving him all his property and goes away into the stage of retirement, so here, too, you understand that the more you accumulate with Baba, the more all of that will remain safe. It is remembered: Some people’s wealth remained buried, some people’s wealth was taken by the Government…. You children know that nothing is going to remain, that everything is going to be destroyed. It isn’t that when destruction takes place and aeroplanes crash, thieves will take all the things. The thieves themselves will all be destroyed. At that time, looting etc. will also end. Otherwise, when an aeroplanecrashes, all the goods first come into the hands of the thieves, and they hide all of the goods just there, in the jungle. They do their work in seconds. They do the work of stealing in many different ways: some steal with royalty and others with ‘unroyalty. You know that all of this is to be destroyed and that you will become the masters of the whole world. You won’t need to search for anyone. You will take birth in a very high family. There is no need for money. Kings never think of taking money. Deities don’t have the slightest thought of that. The Father gives you so much that there is never any question of stealing or jealousy etc. You become completely full. There are thorns and flowers. Here, all are thorns. Those who are unable to stay without vice would definitely be called thorns. From the king downwards, all are thorns. This is why Baba says: I make you like this Lakshmi and Narayan, that is, I make you into kings of kings. Those thorns go in front of the flowers and bow their heads. This Lakshmi and Narayan are sensible. The Father has also explained that those who are in the golden age are called emperors whereas those who are in the silver age are called kings. The greater ones are called emperors and those with a lower position are called kings. First, there will be the court of emperors. There are different levels of status; they would receive their chairs (of position), numberwise. For instance, when someone who was not going to come then decides to come, he would be given a chair first. Honour has to be maintained. You know that your rosary is being created. This is in the intellects of only you children, it is not in the intellect of anyone else. People take a rosary of Rudra and continue to turn its beads. You too used to turn the beads. You used to chant many mantras. The Father says: That too is devotion. Here, you have to remember the One alone. The Father especially says: Sweetest spiritual children, on the path of devotion you used to remember everyone because of body consciousness. Now constantly remember Me alone. You have found the one Father, and so remember that Father while sitting and moving around and you will experience a lot of happiness. By remembering the Father you receive sovereignty over the whole world. As time gets shorter, the more frequently you will remember Baba. Day by day, you will continue to move forward; the soul will never get tired. When someone climbs a mountain physically, he becomes tired. You won’t experience any tiredness while remembering the Father. You will remain happy. You will remember Baba and continue to move ahead. Children have been making effort for half the cycle to go to the land of peace. People don’t know anything about your aim and objective. You children have the introduction. The One for whom you did so much on the path of devotion now says: Remember Me. Just consider whether or not what Baba says is right. Those people think that they will become pure with water, but there is water here too. Is this the water of the Ganges? No. This is rain water that has accumulated. It continues to come from a spring. That cannot be called the water of the Ganges. It can never end. This too is nature. The rain stops but the water keeps coming. Vaishnavs always drink well water. On the one hand, they think that that is pure water and on the other hand, they go to bathe in the Ganges in order to become pure from impure. That can only be called ignorance. Rain water is always good. That is also a wonder of the drama: Godly wonders of nature. A seed is so tiny and yet such a big tree emerges from it! You also know that the earth has become very barren and that there is no strength left in it; there is no taste in it. The Father gives you children all the experiences here of what heaven will be like. It is not that now. This too is fixed in the drama. Some children have visions. They go into trance and relate how the fruit there is so sweet. At the moment, you have visions and later, when you go there, you will see it with your eyes and eat it with your mouth of whatever things you have visions now, you will see those with your eyes. It then depends on your efforts. If you don’t make effort, what status would you claim? Your efforts are now continuing. You will become like that. After this destruction, it will be the kingdom of Lakshmi and Narayan. You know this now. It takes time to become pure. The main thing is the pilgrimage of remembrance. It has been seen that even with the consciousness of brother and sister, there are problems and you are therefore told to consider yourselves to be brothers. When you consider one another to be brother and sister, your vision doesn’t change, but, by considering yourselves to be brothers, bodies do not remain. All of us are souls, not bodies. Whatever you see here will be destroyed. You have to shed those bodies and become bodiless and return home. You come here to learn how to shed those bodies and return. This is your destination. Souls love their bodies very much. Souls try so many ways not to shed their bodies. “I should not shed this body.” The soul has a lot of deep love for this body. The Father says: That is your old body. You are tamopradhan. You souls are dirty. This is why you become unhappy and ill. The Father says: You must no longer love your bodies. They are old bodies. You now have to buy new ones, but there isn’t a shop where you can buy one. The Father says: Remember Me and you will become pure. You will then also receive pure bodies. Even the five elements will be purified. The Father explains everything and then says: Manmanabhav! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. We are Shiv Baba’s heirs and He is our Heir. Surrender yourself totally to the Father with this faith. However much you accumulate with Baba, it will remain safe. It is said: Some people’s wealth will be buried…
  2. You now have to become flowers from thorns. Claim a right to the Father’s love with constant love and service. Day by day, continue to move forward in remembrance.
Blessing: May you be a conqueror of Maya and a conqueror of matter in this benevolent age and benefit everyone.
The confluence age is called the benevolent age. In this age, you constantly have to remember your self-respect: I am a benefactor soul. My duty is first to benefit myself and then benefit everyone. Let alone human souls, we are those who benefit even matter, and so we are called conquerors of matter and conquerors of Maya. When souls, the beings, become conquerors of matter, then matter also becomes a bestower of happiness. You cannot then be caught up in any upheaval of matter or Maya. There cannot be any harmful influence by the atmosphere.
Slogan: Give respect to one another’s ideas and you will become souls who are worthy of respect.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 3 MAY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 May 2019

To Read Murli 2 May 2019 :- Click Here
03-05-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – याद का आधार है प्यार, प्यार में कमी है तो याद एकरस नहीं रह सकती और याद एकरस नहीं है तो प्यार नहीं मिल सकता”
प्रश्नः- आत्मा की सबसे प्यारी चीज़ कौन सी है? उसकी निशानी क्या है?
उत्तर:- यह शरीर आत्मा के लिए सबसे प्यारी चीज़ है। शरीर से इतना प्यार है जो वह छोड़ना नहीं चाहती। बचाव के लिए अनेक प्रबन्ध रचती है। बाप कहते बच्चे, यह तो तमोप्रधान छी-छी शरीर है। तुम्हें अब नया शरीर लेना है इसलिए इस पुराने शरीर से ममत्व निकाल दो। इस शरीर का भान न रहे, यही है मंज़िल।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को समझाते हैं, अब यह तो बच्चे जानते हैं कि दैवी स्वराज्य का उद्घाटन तो हो चुका है। अब तैयारी हो रही है वहाँ जाने लिए। जहाँ कोई शाखा खोलते हैं तो कोशिश की जाती है बड़े आदमी द्वारा ओपनिंग कराने की। बड़े आदमी को देख नीचे वाले ऑफिसर्स आदि सब आयेंगे। समझो गवर्नर आयेगा तो बड़े-बड़े मिनिस्टर्स आदि आयेंगे। अगर कलेक्टर को तुम बुलाओ तो बड़े आदमी नहीं आयेंगे इसलिए कोशिश की जाती है बड़े ते बड़ा कोई आये। किस न किस बहाने से अन्दर आये तो तुम उनको रास्ता बताओ। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा कैसे मिल रहा है। ऐसा कोई दूसरा मनुष्य नहीं जो जानता हो तुम ब्राह्मणों के सिवाए। ऐसे भी सीधा नहीं कहना है – भगवान् आया है। ऐसे भी बहुत कहते हैं – भगवान् आ गया है। परन्तु नहीं, ऐसे अपने को भगवान कहलाने वाले तो ढेर आये हैं। यह तो समझाना है बेहद का बाप आकर बेहद का वर्सा दे रहे हैं कल्प पहले मिसल, ड्रामा प्लैन अनुसार। यह सारी लाइन लिखनी पड़े। मनुष्य लिखत पढ़ेंगे फिर कोशिश करेंगे, जिनकी तकदीर में होगा। तुम बच्चों को मालूम है ना कि हम बेहद के बाप से बेहद का वर्सा ले रहे हैं। यहाँ तो निश्चयबुद्धि बच्चे ही आते हैं। निश्चयबुद्धि भी फिर कोई समय संशयबुद्धि बन जाते हैं। माया पिछाड़ लेती है। चलते-चलते हार खा लेते हैं। ऐसा तो लॉ भी नहीं है जो एक तरफ सदैव जीत हो। हार होवे ही नहीं। हार और जीत दोनों चलती हैं। युद्ध में भी 3 प्रकार के होते हैं, फर्स्टक्लास, सेकण्ड क्लास और थर्डक्लास। कभी-कभी युद्ध न करने वाले भी देखने के लिए आ जाते हैं। वह भी एलाऊ किया जाता है। शायद कुछ रंग लग जाये और इस सेना में आ जायें क्योंकि दुनिया को यह पता नहीं है कि तुम महारथी योद्धे हो। परन्तु तुम्हारे हाथ में हथियार आदि तो कुछ भी नहीं हैं। तुम्हारे हाथ में हथियार आदि शोभेंगे भी नहीं। परन्तु बाप समझाते हैं ना – ज्ञान तलवार, ज्ञान कटारी। तो उन्होंने फिर स्थूल में समझ लिया है। तुम बच्चों को बाप ज्ञान के अस्त्र-शस्त्र देते हैं, इसमें हिंसा की बात ही नहीं। परन्तु यह समझते नहीं हैं। देवियों को स्थूल हथियार आदि दे दिये हैं। उनको भी हिंसक बना दिया है। यह है बिल्कुल बेसमझी। बाप अच्छी तरह जानते हैं कि कौन-कौन फूल बनने वाले हैं, वह तो बाप खुद ही कहते हैं फूल आगे होने चाहिए। सरटेन है यह फूल बनने वाले हैं, बाबा नाम नहीं लेते हैं। नहीं तो और कहेंगे हम कांटे बनेंगे क्या! बाबा पूछते हैं नर से नारायण कौन बनेंगे तो सब हाथ उठाते हैं। यूँ तो खुद समझते हैं जो जास्ती सर्विस करते हैं वो बाप को भी याद करते हैं। बाप से प्यार है तो याद भी उनकी रहेगी। एकरस तो कोई भी याद कर नहीं सकेंगे। याद नहीं कर सकते इसलिए प्यार नहीं। प्यारी चीज़ को तो बहुत याद किया जाता है। बच्चे प्यारे होते हैं तो माँ-बाप गोदी में उठा लेते हैं। छोटे बच्चे भी फूल हैं। जैसे तुम बच्चों की दिल होती है शिवबाबा के पास जायें, वैसे छोटे बच्चे भी खींचते हैं। झट बच्चे को उठाए गोद में बिठायेंगे, प्यार करेंगे।

यह बेहद का बाप तो बहुत प्यारा है। सभी शुभ मनोकामनायें पूरी कर देते हैं। मनुष्यों को क्या चाहिए? एक तो चाहते हैं तन्दुरुस्ती अच्छी हो, कभी बीमार न हों। सबसे अच्छी है यह तन्दुरुस्ती। तन्दुरुस्ती अच्छी हो, परन्तु पैसे न हों तो वह तन्दुरूस्ती भी क्या काम की। फिर चाहिए धन, जिससे सुख मिले। बाप कहते हैं तुमको हेल्थ और वेल्थ दोनों ही मिलनी है जरूर। यह कोई नई बात नहीं है। यह तो बहुत-बहुत पुरानी बात है। तुम जब-जब मिलेंगे तो ऐसे ही कहेंगे। बाकी ऐसा नहीं कहेंगे कि लाखों वर्ष हुए वा पद्मों वर्ष हुए। नहीं, तुम जानते हो यह दुनिया नई कब होती है, पुरानी कब होती है? हम आत्मायें नई दुनिया में जाती हैं फिर पुरानी में आती हैं। तुम्हारा नाम ही रखा है ऑलराउन्डर। बाप ने समझाया है तुम ऑलराउन्डर्स हो। पार्ट बजाते-बजाते अभी बहुत जन्मों के अन्त में आकर पहुँचे हो। पहले-पहले शुरू में तुम पार्ट बजाने आते हो। वह है स्वीट साइलेन्स होम। मनुष्य शान्ति के लिए कितना हैरान होते हैं। यह नहीं समझते कि हम शान्तिधाम में थे फिर वहाँ से आये ही हो पार्ट बजाने। पार्ट पूरा हुआ फिर हम जहाँ से आये हैं वहाँ जरूर जायेंगे। सभी शान्तिधाम से आते हैं। सभी का घर वह ब्रह्मलोक है, ब्रह्माण्ड, जहाँ सब आत्मायें रहती हैं। रूद्र को भी इतना बड़ा बनाते हैं अण्डे मिसल। उनको यह पता नहीं है कि आत्मा बिल्कुल छोटी है। कहते भी हैं स्टार मिसल है फिर भी पूजा बड़े की ही होती है। तुम जानते हो इतनी छोटी बिन्दी की तो पूजा हो नहीं सकती। फिर पूजा किसकी करें, तो बड़ा बनाते हैं फिर पूजा करते हैं, दूध चढ़ाते हैं। वास्तव में तो वह शिव है अभोक्ता। फिर उनको दूध क्यों चढ़ाते हैं? दूध पिये तो फिर भोक्ता हो गया। यह भी एक वन्डर है। सब कहते हैं वह हमारा वारिस है, हम उनके वारिस हैं क्योंकि हम उन पर फिदा हुए हैं। जैसे बाप बच्चों पर फिदा हो सारी प्रापर्टी उनको दे खुद वानप्रस्थ में चले जाते हैं, यहाँ भी तुम समझते हो बाबा के पास हम जितना जमा करेंगे वह सेफ हो जायेगा। गायन भी है किनकी दबी रहेगी धूल में……। तुम बच्चे जानते हो कुछ भी रहता ही नहीं है। सब भस्म हो जाना है। ऐसे भी नहीं है, समझो एरोप्लेन गिरते हैं, विनाश होता है तो चोरों को माल मिलता है। लेकिन चोर आदि खुद भी खत्म हो जायेंगे। उस समय चोरी आदि भी बन्द हो जाती है। नहीं तो एरोप्लेन गिरता है तो पहले-पहले सब माल चोरों के हाथ में आता है। फिर वहाँ ही जंगलों में माल छिपा देते हैं। सेकण्ड में काम कर लेते हैं। अनेक प्रकार की चोरी के काम करते हैं – कोई रॉयल्टी से, कोई अनरॉयल्टी से। तुम जानते हो यह सब विनाश हो जायेंगे और तुम सारे विश्व के मालिक बन जायेंगे। तुमको कहाँ कुछ ढूँढना नहीं पड़ेगा। तुम तो बहुत ऊंच घर में जन्म लेते हो। पैसे की दरकार ही नहीं। राजाओं को कभी पैसे लेने का ख्याल भी नहीं होगा। देवताओं को तो बिल्कुल नहीं रहता। बाप तुमको इतना सब कुछ दे देते हैं जो कभी चोरी चकारी, ईर्ष्या आदि की बात ही नहीं। तुम बिल्कुल फूल बन जाते हो। कांटे और फूल हैं ना। यहाँ सब कांटे ही कांटे हैं। जो विकार के सिवाए रह नहीं सकते तो उनको जरूर कांटा ही कहना पड़े। राजा से लेकर सब कांटे हैं। तब बाबा कहते हैं मैं तुमको इन लक्ष्मी-नारायण जैसा बनाता हूँ अर्थात् राजाओं का भी राजा बनाता हूँ। यह कांटे, फूलों के आगे जाकर माथा झुकाते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण तो समझदार हैं ना। यह भी बाप ने समझाया है सतयुग वालों को महाराजा, त्रेता वालों को राजा कहा जाता है। बड़े आदमी को कहेंगे महाराजा, छोटी आमदनी वाले को राजा कहेंगे। महाराजा की दरबार पहले होगी। मर्तबे तो होते हैं ना। कुर्सियां भी नम्बरवार मिलेंगी। समझो न आने वाला कोई आ जाता है तो भी पहले कुर्सी उनको देंगे। इज्ज़त रखनी होती है।

तुम जानते हो हमारी माला बनती है। यह भी तुम बच्चों की ही बुद्धि में है और किसकी बुद्धि में नहीं है। रूद्र माला उठाकर फेरते रहते हैं। तुम भी फेरते थे ना। अनेक मंत्र जपते थे। बाप कहते हैं यह भी भक्ति है। यहाँ तो एक को ही याद करना है और बाप ख़ास कहते हैं – मीठे-मीठे रूहानी बच्चों, भक्ति मार्ग में देह-अभिमान के कारण तुम सबको याद करते थे, अब मामेकम् याद करो। एक बाप मिला है तो उठते-बैठते बाप को याद करो तो बहुत खुशी होगी। बाप को याद करने से सारे विश्व की बादशाही मिलती है। जितना टाइम कम होता जायेगा उतना जल्दी-जल्दी याद करते रहेंगे। दिन-प्रतिदिन कदम बढ़ाते रहेंगे। आत्मा कभी थकती नहीं है। शरीर से कोई पहाड़ आदि पर चढ़ेंगे तो थक जायेंगे। बाप को याद करने में तुमको कोई थकावट नहीं होगी। खुशी में रहेंगे। बाबा को याद कर आगे चलते जायेंगे। आधाकल्प बच्चों ने मेहनत की है – शान्तिधाम में जाने के लिए। एम ऑबजेक्ट का कुछ भी पता नहीं है। तुम बच्चों को तो परिचय है। भक्ति मार्ग में जिसके लिए इतना सब कुछ किया वह कहते हैं अब मुझे याद करो। तुम ख्याल करो बाबा ठीक कहते हैं या नहीं? वह तो समझते हैं पानी से ही पावन हो जायेंगे। पानी तो यहाँ भी है। क्या यह गंगा का पानी है? नहीं, यह तो बरसात का इकट्ठा किया हुआ पानी है, झरनों से आता ही रहता है, उनको गंगा का पानी नहीं कहेंगे। कभी बन्द नहीं होता – यह भी कुदरत है। बरसात बन्द हो जाती है परन्तु पानी आता ही रहता है। वैष्णव लोग हमेशा कुएं का पानी पीते हैं। एक तरफ समझते हैं यह पवित्र है, दूसरे तरफ फिर पतित से पावन बनने के लिए गंगा में स्नान करने जाते हैं। इसे तो अज्ञान ही कहेंगे। बरसात का पानी तो अच्छा ही होता है। यह भी ड्रामा की कुदरत कहा जाता है। खुदाई नैचुरल कुदरत। बीज कितना छोटा है, उनसे झाड़ कितना बड़ा निकलता है। यह भी जानते हो धरती कलराठी हो जाती है तो फिर उनमें ताकत नहीं रहती, स्वाद नहीं रहता है। तुम बच्चों को बाप यहाँ ही सब अनुभव कराते हैं – स्वर्ग कैसा होगा। अभी तो नहीं है। ड्रामा में यह भी नूँध है। बच्चों को साक्षात्कार होता है। वहाँ के फल आदि कैसे अच्छे मीठे होते हैं – तुम ध्यान में देख आकर सुनाते हो। फिर अभी जो साक्षात्कार करते हो वह वहाँ जब जायेंगे तब इन आंखों से देखेंगे, मुख से खायेंगे। जो भी साक्षात्कार करते हो वह सब इन आंखों से देखेंगे, फिर है पुरूषार्थ पर। अगर पुरूषार्थ ही नहीं करेंगे तो क्या पद पायेंगे? तुम्हारा पुरूषार्थ चल रहा है। तुम ऐसे बनेंगे। इस विनाश के बाद इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य होगा। यह भी अब मालूम पड़ा है। पावन बनने में ही टाइम लगता है। याद की यात्रा मुख्य है, देखा गया – बहन-भाई समझने से भी बाज़ नहीं आते हैं तो अब फिर कहते हैं भाई-भाई समझो। बहन-भाई समझने से भी दृष्टि नहीं फिरती। भाई-भाई देखने से फिर शरीर ही नहीं रहता। हम सब आत्मायें हैं, शरीर नहीं हैं। जो कुछ यहाँ देखने में आता है वह तो विनाश हो जायेगा। यह शरीर छोड़कर तुमको अशरीरी होकर जाना है। तुम यहाँ आते ही हो सीखने के लिए कि हम यह शरीर छोड़कर कैसे जायें। मंज़िल है ना। शरीर तो आत्मा को बहुत प्यारा है। शरीर न छूटे इसके लिए आत्मा कितने प्रबन्ध करती है। कहीं हमारा यह शरीर छूट न जाये। आत्मा का इस शरीर से बहुत-बहुत प्यार है। बाप कहते हैं यह तो पुराना शरीर है। तुम भी तमोप्रधान हो, तुम्हारी आत्मा छी-छी है इसलिए दु:खी-बीमार हो पड़ते हैं। बाप कहते हैं – अभी शरीर से प्यार नहीं रखना है। यह तो पुराना शरीर है। अब तुमको नया खरीद करना है। कोई दुकान नहीं रखा है जहाँ से खरीद करना है। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो पावन बन जायेंगे। फिर शरीर भी तुमको पावन मिलेगा। 5 तत्व भी पावन बन जायेंगे। बाप सब बातें समझाकर फिर कहते हैं मनमनाभव। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) शिवबाबा के हम वारिस हैं, वह हमारा वारिस है, इस निश्चय से बाप पर पूरा फिदा होना है। जितना बाबा के पास जमा करेंगे उतना सेफ हो जायेगा। कहा जाता – किनकी दबी रहेगी धूल में……।

2) कांटे से फूल अभी ही बनना है। एकरस याद और सर्विस से बाप के प्यार का अधिकारी बनना है। दिन-प्रतिदिन याद में कदम आगे बढ़ाते रहना है।

वरदान:- इस कल्याणकारी युग में सर्व का कल्याण करने वाले प्रकृतिजीत मायाजीत भव
संगमयुग को कल्याणकारी युग कहा जाता है इस युग में सदा ये स्वमान याद रहे कि मैं कल्याणकारी आत्मा हूँ, मेरा कर्तव्य है पहले स्व का कल्याण करना फिर सर्व का कल्याण करना। मनुष्यात्मायें तो क्या हम प्रकृति का भी कल्याण करने वाले हैं इसलिए प्रकृतिजीत, मायाजीत कहलाते हैं। जब आत्मा पुरुष प्रकृतिजीत बन जाती है, तो प्रकृति भी सुखदाई बन जाती है। प्रकृति वा माया की हलचल में आ नहीं सकते। उन्हों पर अकल्याण के वायुमण्डल का प्रभाव पड़ नहीं सकता।
स्लोगन:- एक दूसरे के विचारों को सम्मान दो तो माननीय आत्मा बन जायेंगे।
Font Resize