29 october ki murli

TODAY MURLI 29 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 29 October 2020

29/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are now becoming flowers from thorns. You must always give others happiness. You must not make anyone unhappy.
Question: What words will firstclass, effort-making children speak from their hearts?
Answer: “Baba, don’t worry, I will definitely pass with honours and show everyone.” Their registers will also be very good. They will never speak words such as: “I am still an effort-maker.” You have to make effort and become such a mahavir that Maya isn’t able to shake you, even slightly.

Om shanti. You sweetest, spiritual children are studying with the spiritual Father. You should consider yourselves to be souls. We children, incorporeal souls, are studying with the incorporeal Father. In the world, it is only corporeal teachers who teach you. Here, it is the incorporeal Father, the incorporeal Teacher, who is teaching. This one has no value. Shiv Baba, the unlimited Father, comes and gives value to this one. It is Shiv Baba who comes and establishes heaven who is the most valuable one. He carries out such an elevated task! The Father is remembered as the Highest on High, so you children also have to become the highest. You know that the Father is the highest of all. It is in your intellects that the kingdom of heaven is now truly being established. This is the confluence age, the confluence of the golden age and the iron age, the confluence age in which you become the most elevated. People don’t understand the meaning of the word “purshottam” (most elevated being). The highest on high then becomes the lowest of the low. There is so much difference between pure and impure. Worshippers of the deities say: You are full of all virtues. You are the masters of the world. Then, they say of themselves: We are the ones who flounder in the river of poison. They just say this for the sake of saying it; they don’t really believe it. The drama is unique and wonderful. You listen to such things every cycle. The Father comes and explains to you. Those who completely love the Father feel that great pull. How can souls meet the Father? It is in the corporeal world that the meeting takes place; there is no question of experiencing a pull in the incorporeal world. There, all souls are pure; all the rust has been removed. There is no question of a pull there. The question of love arises here. You should absolutely hold on to such a Baba very firmly. “Baba You perform such great wonders! You are making our lives so wonderful!” A lot of love is required. Why isn’t there that love? Because souls are covered in rust. Unless you have the pilgrimage of remembrance, your rust cannot be removed and you can’t become that lovely. You flowers have to bloom here. You have to become flowers here before you can become flowers there for birth after birth. You should have so much happiness that you are changing from thorns into flowers! Flowers always give happiness to everyone. Everyone raises flowers to their eyes and takes their fragrance. They make perfume from flowers. They also make rosewater. It is the Father who makes you into flowers. Baba wonders why you children are not happy. He is making you into flowers of the golden age. When flowers become old they completely wilt. Your intellects know that you are changing from ordinary humans into deities. There is so much difference between tamopradhan human beings and satopradhan deities! No one but the Father can explain this. You know that you are studying to become deities. There is intoxication of the study, is there not? You understand that you are now studying with Baba and that you will then become the masters of the world. Your study is for the future. Have you ever heard of any study for the future? You yourselves say that you are studying for the new world, for the new birth. The Father explains to you the philosophy of action, neutral action and sinful action. This is also mentioned in the Gita, but those who study the Gita don’t understand the meaning of it. You have now come to know from the Father that actions are neutral in the golden age and that when the kingdom of Ravan begins, actions become sinful. For 63 births you have been performing such sinful actions! There is a huge burden of sins on your heads. Everyone has become a sinful soul. How can the sins of the past be removed? You know that you were satopradhan at first and that you then took 84 births. The Father has given you recognition of the drama. Those who come at the beginning of the first kingdom will take 84 births and then the Father will come and give you your fortune of the kingdom. You are now claiming your kingdom. You now understand how you have been around the cycle of 84 births. You now have to become pure again. By remembering Baba, souls become pure and their old bodies are then destroyed. You children should have infinite happiness. You have never before heard the praise of the Father being the Father, the Teacher and the Guru, that all three are the Highest on High. All three are one: the True Father, the True Teacher and the True Guru. You feel that Baba, who is the Ocean of Knowledge, the Father of all souls, is now teaching us. He creates the method. Many good points continue to emerge in the magazines. It is possible that there will be a colour magazine. It is just that the writing in that is very small. All the pictures have already been created. Anyone can create them anywhere. You know the occupation of everyone in each picture. You also know Shiv Baba’s occupation. Children would definitely be told their father’s occupation by their father. You didn’t know anything at all previously. What would little children know about studying? They begin to study at the age of five. It then takes them many years of studying to pass a high examination. You are so ordinary, and yet look what you are becoming! The masters of the world! You will be decorated so much! “A golden spoon in the mouth” is the praise of that place. Even now, when some good children leave their bodies they take birth in very good homes. Therefore, they receive a golden spoon in the mouth. They will definitely go to someone in advance. Only Shri Krishna takes the first viceless birth. Everyone else who leaves here will take birth to vicious ones. However, they will not experience very much punishment in a womb. They will take birth in very good homes. Their sins will have been cut away and only a few will remain. They will not experience that much suffering. As you make progress, you will see how princes and princesses from great royal families come to you. The Father praises you so much! I make you even more elevated than I am, just as a physical father makes his children happy. As soon as he reaches 60 years old he goes into the stage of retirement and occupies himself in devotion. No one can give them knowledge. It is I who grant salvation to everyone with knowledge. Everyone is benefited because of you because a new world is definitely needed for you. You become so happy. You children have received an invitation to the Vegetarian Conference. Baba continues to tell you to have courage. Your sound should spread everywhere in a city like Delhi. There is a lot of devotion in the world through blind faith. There is no question of devotion in the golden and silver ages. That department is completely separate. The reward of knowledge lasts for half the cycle. You receive the inheritance for 21 births from the unlimited Father. You remain happy for 21 generations. There is no mention of sorrow there, even in old age. You remain happy for your full lifespan. The status you claim will be high to the extent that you make effort to claim your inheritance. Therefore, you should make full effort. You can see how the rosary is created, numberwise. It is created according to the effort each of you makes. You are wonderful studentsSchoolchildren are made to race to a target. Baba says: You also have to run to the target and return here. Race on the pilgrimage of remembrance and claim number one. The main thing is the pilgrimage of remembrance. Some children say: Baba, I forget. Oh! You forget the Father who is making you into the masters of the world! Although storms may come, the Father gives you courage. Together with that, He says: This is a battlefield. In fact, the Father should also be called Yudhistar (one who teaches you to battle) because He teaches you to battle. Yudhistar, the Father, teaches you how to battle with Maya. At this time, this is a battlefield. The Father says: Lust is the greatest enemy. By conquering it you conquer the world. You don’t have to chant anything through your lips. You have to remain silent. They make so much effort on the path of devotion. Internally, they chant, Rama, Rama. That is called intense devotion. You know that Baba is making you part of His rosary. You are going to become the beads of the rosary of Rudra that will later be worshipped. The rosary of Rudra and the rosary of Runda are being created. The rosary of Vishnu is also called the rosary of Runda. You are becoming the garland around the neck of Vishnu. How do you become that? When you win the race. You have to remember the Father and know the cycle of 84 births. Only by having remembrance of the Father will your sins be absolved. How are you lighthouses? You have the land of liberation in one eye and the land of liberation-in-life in the other eye. By knowing this cycle, you become the rulers of the globe, the masters of the land of happiness. You souls say: We souls are now to return to our home. We go there by remembering it. This is the pilgrimage of remembrance. Look how firstclass your pilgrimage is! Baba knows that you will go to the ocean of milk just by sitting here. Vishnu is shown lying in a lake of milk. By remembering the Father you will go to the ocean of milk. The ocean of milk doesn’t exist now. Those who created that lake must definitely have poured milk into it. Previously milk was very cheap. They used to give a whole urn of milk for one paisa. So, why wouldn’t there be a whole lake of it? Now, there isn’t any milk. Everywhere, there is just water. Baba has seen a very big picture of Vishnu in Nepal. They have made him dark blue. You are now becoming the masters of the land of Vishnu by going on the pilgrimage of remembrance and by spinning the discus of self-realization. You also have to imbibe divine virtues here. This is the most elevated confluence age. By studying, you become most elevated. The degraded nature of souls finishes. Baba explains to you every day that you should feel intoxicated. Some say: Baba, I am making effort. Tell Baba with an open heart: Baba, don’t worry about me! I will definitely pass with honoursFirstclass children who study very well will have a good register. You should tell Baba: Baba, don’t worry! I will definitely become like them. Baba also knows that many teachers are very firstclass. Not everyone can become firstclass. The good teachers know one another. Not everyone can be brought into the line of maharathis. Open good, big centres so that eminent people come. The treasure-store was also filled in the previous cycle. Baba, the Emperor of all Emperors, will definitely fill your treasure-store. Both Fathers have many children. How many children does Prajapita Brahma have? Some are poor, some ordinary and others wealthy. The kingdom was established through this one in the previous cycle too. It was called the divine land of kings (Rajasthan). It is now the devilish land of kings. The whole world was the land of divine kings. None of those many different countries existed there. Delhi was by the banks of River Jamuna. It was called Paristhan (land of angels). The rivers there didn’t overflow. Now they overflow so much; even dams break. It is as though we have become slaves of nature. You will then become the masters of it. There is no Maya with power to dishonour you there. The earth doesn’t have the power to shake. You also have to become mahavirs (brave warriors). Hanuman is called Mahavir. The Father says: All of you are mahavirs. Mahavir children can never fluctuate. There are temples built to mahavirs. They don’t keep so many images there. Therefore, a model has been created. You are now making Bharat into heaven; you should therefore have so much happiness. You should imbibe virtues so well. Continue to remove your defects. Always remain cheerful! Storms will come; it is only when you experience storms that your mahavir power will be visible. The stronger you become, the more the storms will come. You are now making effort and becoming mahavirs, numberwise, according to the efforts you make. Only the Father is the Ocean of Knowledge. Everything else, the scriptures etc., is the paraphernalia of devotion. There is this most elevated confluence age for you. The Krishna soul is sitting here. This one is Bhagirath (the Lucky Chariot). Similarly, all of you are lucky chariots, because you are fortunate. The Father can grant visions of anyone on the path of devotion. Due to this, people have said that He is omnipresent. This is also the destined in the drama. You children are studying a very elevated study. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remove the rust that has settled on you souls and become very very lovely by staying on the pilgrimage of remembrance. There should be such love that you are pulled to the Father.
  2. Don’t be afraid of the storms of Maya. Become mahavirs. Continue to remove your defects. Always remain cheerful and never be shaken.
Blessing: May you be a master creator and make your trimurti creation co-operate with you with the power of your right.
Your trimurti powers (mind, intellect and sanskars) are the creation of you master creators. With the power of your right, make them co-operate with you. A king does not do anything himself, but tells others to do it; the workers are separate people. In the same way, you souls are the ones who order your special trimurti powers and they do everything. So, by keeping the blessing of being a master creator in your awareness, order your trimurti powers and your physical senses to follow the right path.
Slogan: In order to claim a right to the blessing of avyakt sustenance, be very clear with your words.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 29 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

29-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम अभी कांटे से फूल बने हो, तुम्हें हमेशा सबको सुख देना है, तुम किसी को भी दु:ख नहीं दे सकते हो”
प्रश्नः- अच्छे फर्स्टक्लास पुरूषार्थी बच्चे कौन से बोल खुले दिल से बोलेंगे?
उत्तर:- बाबा हम तो पास विद् ऑनर होकर दिखायेंगे। आप बेफिक्र रहो। उनका रजिस्टर भी अच्छा होगा। उनके मुख से कभी भी यह बोल नहीं निकलेंगे कि अभी तो हम पुरूषार्थी हैं। पुरुषार्थ कर ऐसा महावीर बनना है जो माया जरा भी हिला न सके।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे रूहानी बाप द्वारा पढ़ रहे हैं। अपने को आत्मा समझना चाहिए। निराकार बाप के हम निराकारी बच्चे आत्मायें पढ़ रहे हैं। दुनिया में साकारी टीचर ही पढ़ाते हैं। यहाँ है निराकार बाप, निराकार टीचर, बाकी इनकी कोई वैल्यु नहीं। शिवबाबा बेहद का बाप आकर इनको वैल्यु देते हैं। मोस्ट वैल्युबुल है शिवबाबा, जो स्वर्ग की स्थापना करते हैं। कितना ऊंच कार्य करते हैं। जितना बाप ऊंच ते ऊंच गाया जाता है, उतना ही बच्चों को भी ऊंच बनना है। तुम जानते हो सबसे ऊंच है बाप। यह भी तुम्हारी बुद्धि में है कि बरोबर, अभी स्वर्ग की राजाई स्थापन हो रही है, यह है संगमयुग। सतयुग और कलियुग का बीच, पुरूषोत्तम बनने का संगमयुग। पुरूषोत्तम अक्षर का अर्थ भी मनुष्य नहीं जानते। ऊंच ते ऊंच सो फिर नीच ते नीच बने हैं। पतित और पावन में कितना फ़र्क है। देवताओं के जो पुजारी होते हैं, वह खुद वर्णन करते हैं, आप सर्वगुण सम्पन्न……. विश्व के मालिक। हम विषय वैतरणी नदी में गोता खाने वाले हैं। कहने मात्र सिर्फ कहते हैं, समझते थोड़ेही हैं। ड्रामा विचित्र वण्डरफुल है। ऐसी-ऐसी बातें तुम कल्प-कल्प सुनते हो। बाप आकर समझाते हैं। जिनका बाप के साथ पूरा लव है उनको बहुत कशिश होती है। अब आत्मा बाप को कैसे मिले? मिलना होता है साकार में, निराकारी दुनिया में तो कशिश की बात ही नहीं। वहाँ तो हैं ही सब पवित्र। कट निकली हुई है। कशिश की बात नहीं। लव की बात यहाँ होती है। ऐसे बाबा को तो एकदम पकड़ लो। बाबा आप तो कमाल करते हो। आप हमारी जीवन ऐसी बनाते हो। बहुत लव चाहिए। लव क्यों नहीं है क्योंकि कट चढ़ी हुई है। याद की यात्रा के सिवाए कट निकलेगी नहीं, इतने लवली नहीं बनते हैं। तुम फूलों को तो यहाँ ही खिलना है, फूल बनना है। तब फिर वहाँ जन्म-जन्मान्तर फूल बनते हो। कितनी खुशी होनी चाहिए – हम कांटे से फूल बन रहे हैं। फूल हमेशा सबको सुख देते हैं। फूल को सब अपनी आंखों पर रखते हैं, उनसे खुशबू लेते हैं। फूलों का इत्र बनाते हैं। गुलाब का जल बनाते हैं। बाप तुमको कांटों से फूल बनाते हैं। तो तुम बच्चों को खुशी क्यों नहीं होती है! बाबा तो वन्डर खाते हैं, शिवबाबा हमको स्वर्ग का फूल बनाते हैं! फूल भी पुराना होता है, तो फिर एकदम मुरझा जाता है। तुम्हारी बुद्धि में है अभी हम मनुष्य से देवता बनते हैं। तमोप्रधान मनुष्य और सतोप्रधान देवताओं में कितना फ़र्क है। यह भी सिवाए बाप के और कोई समझा न सके।

तुम जानते हो हम देवता बनने के लिए पढ़ रहे हैं। पढ़ाई में नशा रहता है ना। तुम भी समझते हो हम बाबा द्वारा पढ़कर विश्व के मालिक बनते हैं। तुम्हारी पढ़ाई है फार फ्यूचर। फ्युचर के लिए पढ़ाई कब सुनी है? तुम ही कहते हो हम पढ़ते हैं नई दुनिया के लिए। नये जन्म के लिए। कर्म-अकर्म-विकर्म की गति भी बाप समझाते हैं। गीता में भी है परन्तु उनका अर्थ गीता वालों को थोड़ेही आता है। अभी बाप द्वारा तुमने जाना है कि सतयुग में कर्म अकर्म हो जाता है फिर रावण राज्य में कर्म विकर्म होना शुरू होते हैं। 63 जन्म तुम ऐसे कर्म करते आये हो। विकर्मों का बोझा सिर पर बहुत है। सब पाप आत्मायें बन गये हैं। अब वह पास्ट के विकर्म कैसे कटेंगे। तुम जानते हो पहले सतोप्रधान थे फिर 84 जन्म लेते हैं। बाप ने ड्रामा की पहचान दी है। जो पहले-पहले आयेंगे, पहले-पहले जिनका राज्य होगा वही 84 जन्म लेंगे। फिर बाप आकर राज्य-भाग्य देगा। अभी तुम राज्य ले रहे हो। समझते हो हमने कैसे 84 का चक्र लगाया है। अब फिर पवित्र बनना है। बाबा को याद करते-करते आत्मा पवित्र हो जायेगी फिर यह पुराना शरीर खत्म हो जायेगा। बच्चों को अपार खुशी होनी चाहिए। यह महिमा तो कभी भी कहाँ नहीं सुनी कि बाप, बाप भी है, टीचर भी है, गुरू भी है। सो भी तीनों ही ऊंच ते ऊंच हैं। सत बाप, सत टीचर, सतगुरू तीनों एक ही हैं। अभी तुमको भासना आती है। बाबा जो ज्ञान का सागर है, सभी आत्माओं का बाप है, वह हमको पढ़ा रहे हैं। युक्ति रच रहे हैं। मैगजीन में भी अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स निकलती रहती हैं। हो सकता है रंगीन चित्रों की भी मैगजीन निकले। सिर्फ अक्षर छोटे-छोटे हो जाते हैं। चित्र तो बने हुए हैं। कहाँ भी कोई बना सकते हैं। ऊपर से लेकर हर एक चित्र का आक्यूपेशन तुम जानते हो। शिवबाबा का भी आक्यूपेशन तुम जानते हो। बच्चे बाप का आक्यूपेशन जरूर बाप द्वारा ही जानेंगे ना। तुम कुछ भी नहीं जानते थे। छोटे बच्चे पढ़ाई से क्या जानें। 5 वर्ष के बाद पढ़ना शुरू करते हैं। फिर पढ़ते-पढ़ते कई वर्ष लग जाते हैं, ऊंच इम्तहान पास करने में। तुम हो कितने साधारण और बनते क्या हो! विश्व के मालिक। तुम्हारा कितना श्रृंगार होगा। गोल्डन स्पून इन माउथ। वहाँ का तो गायन ही है। अभी भी कोई अच्छे बच्चे शरीर छोड़ते हैं तो बहुत अच्छे घर में जन्म लेते हैं। तो गोल्डन स्पून इन माउथ मिलता है। इनएडवान्स तो जायेंगे ना कोई पास। निर्विकारी के पास तो पहले-पहले जन्म श्रीकृष्ण को ही लेना है। बाकी तो जो भी जायेंगे वह विकारी पास ही जन्म लेंगे। परन्तु गर्भ में इतनी सज़ायें नहीं भोगेंगे। बड़े अच्छे घर में जन्म लेंगे। सज़ायें तो कट गई, बाकी करके थोड़ी होंगी। इतना दु:ख नहीं होगा। आगे चल देखना तुम्हारे पास बड़े-बड़े घर के बच्चे प्रिन्स-प्रिन्सेज कैसे आते हैं। बाप तुम्हारी कितनी महिमा करते हैं। तुमको हम अपने से भी ऊंच बनाता हूँ। जैसे कोई लौकिक बाप बच्चों को सुखी बनाते हैं। 60 वर्ष हुए बस खुद वानप्रस्थ में चले जाते हैं, भक्ति में लग जाते हैं। ज्ञान तो कोई दे न सके। ज्ञान से सर्व की सद्गति मैं करता हूँ। तुम्हारे निमित्त सबका कल्याण हो जाता है क्योंकि तुम्हारे लिए जरूर नई दुनिया चाहिए। तुम कितने खुश होते हो। अब वेजीटेरियन की कान्फ्रेन्स में भी तुम बच्चों को निमंत्रण मिला हुआ है। बाबा तो कहते रहते हैं हिम्मत करो। देहली जैसे शहर में तो एकदम आवाज़ फैल जाए। दुनिया में अन्धश्रद्धा की भक्ति बहुत है। सतयुग-त्रेता में भक्ति की कोई बात होती नहीं। वह डिपार्टमेंट अलग है। आधाकल्प ज्ञान की प्रालब्ध होती है। तुमको 21 जन्म का वर्सा मिलता है, बेहद के बाप से। फिर 21 पीढ़ी तुम सुखी रहते हो। बुढ़ापे तक दु:ख का नाम नहीं रहता। फुल आयु सुखी रहते हो। जितना वर्सा पाने का पुरूषार्थ करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। तो पुरूषार्थ पूरा करना चाहिए। तुम देखते हो नम्बरवार माला कैसे बनती है। पुरूषार्थ अनुसार ही बनेगी। तुम हो स्टूडेन्ट, वन्डरफुल। स्कूल में भी बच्चों को दौड़ाते हैं ना निशान तक। बाबा भी कहते हैं तुमको निशान तक दौड़कर फिर यहाँ ही आना है। याद की यात्रा से तुम दौड़कर जाओ फिर तुम नम्बरवन में आ जायेंगे। मुख्य है याद की यात्रा। कहते हैं – बाबा हम भूल जाते हैं। अरे बाप इतना तुमको विश्व का मालिक बनाते हैं, उनको तुम भूल जाते हो। भल तूफान तो आयेंगे। बाप हिम्मत दिलायेंगे ना। साथ-साथ कहते हैं यह युद्ध-स्थल है। युद्धिष्ठिर भी वास्तव में बाप को कहना चाहिए जो युद्ध सिखलाते हैं। युद्धिष्ठिर बाप तुमको सिखलाते हैं – माया से तुम युद्ध कैसे कर सकते हो। इस समय युद्ध का मैदान है ना। बाप कहते हैं – काम महाशत्रु है, उन पर जीतने से तुम जगत जीत बनेंगे। तुमको मुख से कुछ भी जपना, करना नहीं है, चुप रहना है। भक्ति मार्ग में कितनी मेहनत करते हैं। अन्दर राम-राम जपते हैं, उसको ही कहा जाता है नौधा भक्ति। तुम जानते हो बाबा हमको अपनी माला का बना रहे हैं। तुम रूद्र माला के मणके बनने वाले हो जिसको फिर पूजेंगे। रूद्र माला और रूण्ड माला बन रही है। विष्णु की माला को रूण्ड कहा जाता है। तुम विष्णु के गले का हार बनते हो। कैसे बनेंगे? जब दौड़ी में विन करेंगे। बाप को याद करना है और 84 के चक्र को जानना है। बाप की याद से ही विकर्म विनाश होंगे। तुम कैसे लाइट हाउस हो। एक आंख में मुक्तिधाम, एक में जीवनमुक्तिधाम। इस चक्र को जानने से तुम चक्रवर्ती राजा, सुखधाम के मालिक बन जायेंगे। तुम्हारी आत्मा कहती है – अभी हम आत्मायें जायेंगे अपने घर। घर को याद करते-करते जायेंगे। यह है याद की यात्रा। तुम्हारी यात्रा देखो कैसी फर्स्टक्लास है। बाबा जानते हैं हम ऐसे बैठे-बैठे क्षीरसागर में जायेंगे। विष्णु को क्षीर सागर में दिखाते हैं ना। बाप को याद करते-करते क्षीर सागर में चले जायेंगे। क्षीर सागर अभी तो है नहीं। जिन्हों ने तलाव बनाया है जरूर क्षीर डाला होगा। आगे तो क्षीर (दूध) बहुत सस्ता था। एक पैसे का लोटा भरकर आता था। तो क्यों नहीं तलाव भरता होगा। अभी तो क्षीर है कहाँ। पानी ही पानी हो गया है। बाबा ने नेपाल में देखा है – बहुत बड़ा विष्णु का चित्र है। सांवरा ही बनाया है। अभी तुम विष्णुपुरी के मालिक बन रहे हो – याद की यात्रा से और स्वदर्शन चक्र फिराने से। दैवीगुण भी यहाँ धारण करने हैं। यह है पुरूषोत्तम संगमयुग। पढ़ते-पढ़ते तुम पुरूषोत्तम बन जायेंगे। आत्मा का कनिष्टपना छूट जायेगा। बाबा रोज़-रोज़ समझाते हैं – नशा चढ़ना चाहिए। कहते हैं बाबा पुरूषार्थ कर रहे हैं। अरे खुले दिल से बोलो ना – बाबा हम तो पास विद आनर होकर दिखायेंगे। आप फिकर मत करो। फर्स्टक्लास बच्चे जो अच्छी रीति पढ़ते हैं, उनका रजिस्टर भी अच्छा होगा। बाबा को कहना चाहिए – बाबा आप बेफिकर रहो, हम ऐसा बनकर दिखायेंगे। बाबा भी जानते हैं ना, बहुत टीचर्स बड़ी फर्स्टक्लास हैं। सब तो फर्स्टक्लास नहीं बन सकते। अच्छे-अच्छे टीचर्स एक दो को भी जानते हैं। सबको महारथियों की लाइन में नहीं ला सकते। अच्छे बड़े-बड़े सेन्टर्स खोलो तो बड़े-बड़े आदमी आयेंगे। कल्प पहले भी हुण्डी भरी थी। सांवलशाह बाबा हुण्डी जरूर भरेंगे। दोनों बाप बचड़ेवाल हैं। प्रजापिता ब्रह्मा के कितने बच्चे हैं। कोई गरीब, कोई साधारण, कोई साहूकार, कल्प पहले भी इनके द्वारा राजाई स्थापन हुई थी, जिसको दैवी राजस्थान कहा जाता था। अब तो आसुरी राजस्थान है। सारी विश्व दैवी राजस्थान थी, इतने खण्ड थे नहीं। यही देहली जमुना का कण्ठा था, उनको परिस्तान कहा जाता है। वहाँ की नदियाँ आदि उछलती थोड़ेही हैं। अभी तो कितनी उछलती हैं, डैम्स फट पड़ते हैं। प्रकृति के जैसे हम दास बन गये हैं। फिर तुम मालिक बन जायेंगे। वहाँ माया की ताकत नहीं रहती है जो बेइज्जती करे। धरती की ताकत नहीं जो हिल सके। तुमको भी महावीर बनना चाहिए। हनूमान को महावीर कहते हैं ना। बाप कहते हैं तुम सब महावीर हो। महावीर बच्चे कभी हिल न सकें। महावीर महावीरनी के मन्दिर बने हुए हैं। चित्र इतने थोड़ेही सबके रखेंगे। माडल रूप में बनाया हुआ है। अभी तुम भारत को स्वर्ग बना रहे हो तो कितनी खुशी होनी चाहिए। कितने अच्छे गुण होने चाहिए। अवगुणों को निकालते जाओ। सदैव हर्षित रहना है। तूफान तो आयेंगे। तूफान आयें तब तो महावीरनी की ताकत देखने में आये। तुम जितना मजबूत बनेंगे उतना तूफान आयेंगे। अभी तुम पुरूषार्थ कर महावीर बन रहे हो, नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। ज्ञान का सागर बाप ही है। बाकी सब शास्त्र आदि हैं भक्ति मार्ग की सामग्री। तुम्हारे लिए है – पुरूषोत्तम संगमयुग। कृष्ण की आत्मा यहाँ ही बैठी है। भागीरथ यह है। ऐसे तुम सब भागीरथ हो, भाग्यशाली हो ना। भक्ति मार्ग में बाप तो कोई का भी साक्षात्कार करा सकते हैं। इस कारण मनुष्यों ने सर्वव्यापी कह दिया है, यह भी ड्रामा की भावी। तुम बच्चे बहुत ऊंच पढ़ाई पढ़ रहे हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) आत्मा पर जो कट (जंक) चढ़ी है, उसे याद की यात्रा से उतार कर बहुत-बहुत लवली बनना है। लव ऐसा हो जो बाप की सदा कशिश रहे।

2) माया के तूफानों से डरना नहीं है, महावीर बनना है। अपने अवगुणों को निकालते जाना है, सदा हर्षित रहना है। कभी भी हिलना नहीं है।

वरदान:- अपने अधिकार की शक्ति द्वारा त्रिमूर्ति रचना को सहयोगी बनाने वाले मास्टर रचता भव
त्रिमूर्ति शक्तियां (मन, बुद्धि और संस्कार) यह आप मास्टर रचता की रचना हैं। इन्हें अपने अधिकार की शक्ति से सहयोगी बनाओ। जैसे राजा स्वयं कार्य नहीं करता, कराता है, करने वाले राज्य कारोबारी अलग होते हैं। ऐसे आत्मा भी करावनहार है, करनहार ये विशेष त्रिमूर्ति शक्तियां हैं। तो मास्टर रचयिता के वरदान को स्मृति में रख त्रिमूर्ति शक्तियों को और साकार कर्मेन्द्रियों को सही रास्ते पर चलाओ।
स्लोगन:- अव्यक्त पालना के वरदान का अधिकार लेने के लिए स्पष्टवादी बनो।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 29 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 October 2019

To Read Murli 28 October 2019:- Click Here
29-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – उठते-बैठते बुद्धि में ज्ञान उछलता रहे तो अपार खुशी में रहेंगे”
प्रश्नः- तुम बच्चों को किसके संग से बहुत-बहुत सम्भाल करनी है?
उत्तर:- जिनकी बुद्धि में बाप की याद नहीं ठहरती, बुद्धि इधर-उधर भटकती रहती है, उनके संग से तुम्हें सम्भाल करनी है। उनके अंग से अंग भी नहीं लगना चाहिए क्योंकि याद में न रहने वाले वायुमण्डल को खराब करते हैं।
प्रश्नः- मनुष्यों को पश्चाताप् कब होगा?
उत्तर:- जब उन्हें पता पड़ेगा कि इन्हें पढ़ाने वाला स्वयं भगवान है तो उनका मुँह फीका पड़ जायेगा और पश्चाताप् करेंगे कि हमने ग़फलत की, पढ़ाई नहीं पढ़ी।

ओम् शान्ति। अब रूहानी यात्रा को तो बच्चे अच्छी तरह से समझते हैं। कोई भी हठयोग की यात्रा होती नहीं। यह है याद। याद के लिए कोई भी तकलीफ की बात नहीं है। बाप को याद करना – इसमें कोई तकल़ीफ नहीं है। यह क्लास है इसलिए सिर्फ कायदेसिर बैठना होता है। तुम बाप के बच्चे बने हो, बच्चों की पालना हो रही है। कौन-सी पालना? अविनाशी ज्ञान रत्नों का खजाना मिल रहा है। बाप को याद करने में कोई तक-ल़ीफ नहीं है। सिर्फ माया बुद्धि का योग तोड़ देती है। बाकी बैठो भल कैसे भी, उनसे कोई याद का तैलुक नहीं। बहुत बच्चे हठयोग से 3-4 घण्टे बैठते हैं। सारी रात भी बैठ जाते हैं। आगे तुम्हारी तो थी भट्ठी, वह बात और थी, वहाँ तुमको धन्धाधोरी तो था नहीं इसलिए यह सिखाया जाता था। अब बाप कहते हैं तुम गृहस्थ व्यवहार में रहो। धन्धाधोरी भी भल करो। कुछ भी काम काज करते बाप को याद करना है। ऐसे भी नहीं कि अभी निरन्तर तुम याद कर सकते हो। नहीं। इस अवस्था में टाइम लगता है। अभी निरन्तर याद ठहर जाए फिर तो कर्मातीत अवस्था हो जाए। बाप समझाते हैं – बच्चे, ड्रामा के प्लैन अनुसार अब बाकी थोड़ा समय है। सारा हिसाब भी बुद्धि में रहता है। कहते हैं क्राइस्ट से 3 हज़ार वर्ष पहले भारत ही था। उनको स्वर्ग कहा जाता था। अभी उन्हों के 2 हज़ार वर्ष पूरे होते हैं, 5000 वर्ष का हिसाब हो जाता है।

देखा जाता है तुम्हारा नाम सारा विलायत से ही निकलेगा क्योंकि उन्हों की बुद्धि फिर भी भारतवासियों से तीखी है। भारत से पीस भी वह मांगते हैं। भारतवासियों ने ही लाखों वर्ष कहकर और सर्वव्यापी का ज्ञान देकर बुद्धि बिगाड़ दी है। तमोप्रधान बन गये हैं। वह इतने तमोप्रधान नहीं बने हैं, उन्हों की बुद्धि तो बड़ी तीखी है। उन्हों का जब आवाज़ निकलेगा तब भारतवासी जागेंगे क्योंकि भारतवासी एकदम घोर नींद में सोये हुए हैं। वह थोड़े सोये हुए हैं। उन्हों से आवाज़ अच्छा निकलेगा, विलायत से आये भी थे कि हमको कोई बतावे – पीस कैसे हो सकती है? क्योंकि बाप भी भारत में ही आते हैं। यह बात तो तुम बच्चे ही बता सकते हो – दुनिया में फिर से वह पीस कब और कैसे होगी? तुम बच्चे तो जानते हो बरोबर पैराडाइज़ अथवा हेविन था। नई दुनिया में भारत पैराडाइज़ था। यह और कोई भी नहीं जानते हैं। मनुष्यों की बुद्धि में यह बात ही बैठ गई है कि ईश्वर सर्वव्यापी है और कल्प की आयु लाखों वर्ष कह दी है। सबसे जास्ती पत्थरबुद्धि यह भारत-वासी ही बने हैं। यह गीता शास्त्र आदि सब हैं भक्ति मार्ग के। फिर भी यह सब ऐसे ही बनेंगे। भल ड्रामा को जानते हैं फिर भी बाप तो पुरूषार्थ कराते हैं। तुम बच्चे जानते हो विनाश तो जरूर होगा। बाप आये ही हैं नई दुनिया की स्थापना करने। यह तो खुशी की बात है ना। जब कोई बड़ा इम्तहान पास करते हैं तो अन्दर में खुशी होती है ना। हम यह सब पास कर यह (देवता) जाकर बनेंगे। सारा पढ़ाई पर मदार है।

तुम बच्चे जानते हो बरोबर बाप हमको पढ़ाकर यह बनाते हैं। बरोबर पैराडाइज़ हेविन था। मनुष्य तो बिचारे बिल्कुल ही मूँझे हुए हैं। बेहद के बाप पास जो ज्ञान है वह तुम बच्चों को दे रहे हैं। बाप की तुम महिमा करते हो – बाबा नॉलेजफुल है फिर ब्लिसफुल भी है, खजाना भी उनके पास फुल है। तुमको इतना साहूकार कौन बनाता है? यहाँ तुम क्यों आये हो? वर्सा पाने। अगर कोई की तन्दुरूस्ती अच्छी है परन्तु धन नहीं है तो धन बिगर क्या होगा! वैकुण्ठ में तो तुम्हारे पास धन रहता है। यहाँ जो-जो साहूकार हैं, उनको नशा रहता है हमारे पास इतना धन है, यह-यह कारखाने आदि हैं। शरीर छोड़ा खलास। तुम तो जानते हो हमको बाबा 21 जन्मों के लिए इतना खजाना दे देते हैं। बाप खुद तो खजाने का मालिक नहीं बनते हैं। तुम बच्चों को मालिक बनाते हैं। यह भी तुम जानते हो विश्व में शान्ति तो सिवाए गॉड फादर के कोई स्थापन कर न सके। सबसे फर्स्टक्लास चित्र है – यह त्रिमूर्ति गोले का। इस चक्र में ही सारा ज्ञान भरा हुआ है। तुम्हारी ऐसी कोई वन्डरफुल चीज़ होगी तब वह समझेंगे इसमें जरूर कोई ऐसा राज़ है। बच्चे कोई-कोई छोटे-छोटे खिलौने बनाते हैं, वह बाबा को पसन्द नहीं आते। बाबा तो कहते बड़े चित्र लगाओ जो दूर से कोई पढ़कर समझ सके। मनुष्य अटेन्शन बड़ी चीज़ पर देंगे। इसमें क्लीयर दिखाया हुआ है, उस तरफ है कलियुग, इस तरफ है सतयुग। बड़े-बड़े चित्र होंगे तो मनुष्यों का अटेन्शन खीचेगा। टूरिस्ट भी देखेंगे, समझेंगे भी वह अच्छी तरह से। यह भी जानते हैं क्राइस्ट से 3 हज़ार वर्ष पहले स्वर्ग था। बाहर तो ऐसे नहीं जानते। 5 हज़ार वर्ष का हिसाब तुम क्लीयर समझाते हो तो यह इतना बड़ा बनाना चाहिए जो दूर से देख सकें और अक्षर भी पढ़ें, जिससे समझें कि दुनिया की अन्त तो बरोबर है। बॉम्ब्स तो तैयार होते रहते हैं। नैचुरल कैलेमिटीज भी होगी। तुम विनाश का नाम सुनते हो तो अन्दर में खुशी बहुत होनी चाहिए। परन्तु ज्ञान ही नहीं होगा तो खुश भी हो न सके। बाप कहते हैं देह सहित सब कुछ छोड़ अपने को आत्मा समझो, अपनी आत्मा का योग मुझ बाप के साथ लगाओ। यह है मेहनत की बात। पावन बनकर ही पावन दुनिया में आना है। तुम समझते हो हम ही बादशाही लेते हैं, फिर गॅवाते हैं। यह तो बहुत सहज है। उठते, बैठते, चलते अन्दर में टपकना चाहिए, जैसे बाबा के पास ज्ञान है ना। बाप आये ही हैं पढ़ाकर देवता बनाने। तो इतनी अथाह खुशी बच्चों को रहनी चाहिए ना। अपने से पूछो इतनी अथाह खुशी है? बाप को इतना याद करते हैं? चक्र की भी सारी नॉलेज बुद्धि में है, तो इतनी खुशी रहनी चाहिए। बाप कहते हैं मुझे याद करो और बिल्कुल खुशी में रहो। तुमको पढ़ाने वाला देखो कौन है! जब सबको मालूम पड़ेगा तो सबका मुँह ही फीका हो जायेगा। परन्तु अभी उन्हों के समझने में थोड़ी देरी है। अभी देवता धर्म के इतने मेम्बर्स तो बने नहीं हैं। सारी राजाई स्थापन हुई नहीं है। कितने ढेर मनुष्यों को बाप का पैगाम देना है! बेहद का बाप फिर से हमको स्वर्ग की बादशाही दे रहे हैं। तुम भी उस बाप को याद करो। बेहद का बाप तो जरूर बेहद का सुख देंगे ना। बच्चों के अन्दर में तो अथाह ज्ञान की खुशी होनी चाहिए और जितना बाप को याद करते रहेंगे तो आत्मा पवित्र बनती जायेगी।

ड्रामा के प्लैन अनुसार तुम बच्चे जितना सर्विस कर प्रजा बनाते हो तो जिनका कल्याण होता है उन्हों की फिर आशीर्वाद भी मिल जाती है। गरीबों की सर्विस करते हो। निमंत्रण देते रहो। ट्रेन में भी तुम बहुत सर्विस कर सकते हो। इतने छोटे बैज में ही कितनी नॉलेज भरी हुई है। सारी पढ़ाई का तन्त इसमें है। बैजेस तो बहुत अच्छे-अच्छे ढेर बनाने चाहिए जो किसको सौगात भी दे सकें। कोई को भी समझाना तो बहुत सहज है। सिर्फ शिवबाबा को याद करो। शिवबाबा से ही वर्सा मिलता है तो बाप और बाप का वर्सा स्वर्ग की बादशाही, कृष्णपुरी को याद करो। मनुष्यों की मत तो कितनी मूँझी हुई है। कुछ भी समझते नहीं हैं। विकार के लिए कितना तंग करते हैं। काम के पिछाड़ी कितना मरते हैं। कोई बात ही समझते नहीं। सबकी बुद्धि बिल्कुल चट हो गई है, बाप को जानते ही नहीं। यह भी ड्रामा में नूँध है। सबकी मेंटल खलास हो गई है (मानसिक शक्ति खत्म हो गई है)। बाप कहते हैं – बच्चों, तुम पवित्र बनो तो ऐसे स्वर्ग के मालिक बन जायेंगे, परन्तु समझते ही नहीं। आत्मा की ताकत सारी निकल गई है। कितना समझाते हैं फिर भी पुरूषार्थ करना और कराना है। पुरूषार्थ में थकना नहीं है। हार्टफेल भी नहीं होना है। इतनी मेहनत की, भाषण से एक भी नहीं निकला। लेकिन तुमने जो सुनाया, उसे जिसने भी सुना उस पर छाप तो लग गयी। पिछाड़ी में सब जानेंगे जरूर। तुम बी.के. की अथाह महिमा निकलने वाली है। परन्तु एक्टिविटी देखते हैं तो जैसे एकदम बेसमझी की। कोई रिगार्ड ही नहीं, पूरी पहचान नहीं। बुद्धि बाहर भटकती रहती है। बाप को याद करें तो मदद भी मिले। बाप को याद करते नहीं तो गोया वह पतित हैं। तुम बनते हो पावन। जो बाप को याद नहीं करते हैं तो उन्हों की बुद्धि जरूर कहाँ न कहाँ भटकती रहती है। तो उनके साथ अंग-अंग से नहीं मिलना चाहिए क्योंकि याद में न रहने के कारण वह वायुमण्डल को खराब कर देते हैं। पवित्र और अपवित्र इकट्ठे हो न सके इसलिए बाप पुरानी सृष्टि को खलास कर देते हैं। दिन-प्रतिदिन कायदे भी सख्त निकलते जायेंगे। बाप को याद नहीं करते हैं तो फायदे के बदले और ही नुकसान करते हैं। पवित्रता का सारा मदार याद पर है। एक जगह बैठने की बात नहीं है। यहाँ इकट्ठा बैठने से तो अलग-अलग पहाड़ी पर जाकर बैठें वह अच्छा है। जो याद नहीं करते हैं वह हैं पतित। उनका तो संग भी नहीं करना चाहिए। चलन से भी मालूम पड़ता है। याद बिगर पावन तो बन न सकें। हर एक के ऊपर पापों का बोझा बहुत है – जन्म-जन्मान्तर का। वह बिगर याद की यात्रा निकले कैसे। वह गोया पतित ही हैं।

बाप कहते हैं मैं तुम बच्चों के लिए सारी पतित दुनिया को खलास कर देता हूँ। उनका संग भी न हो। परन्तु इतनी भी बुद्धि नहीं कि किसके साथ संग करना चाहिए। तुम्हारा प्यार पावन का पावन के साथ होना चाहिए। यह भी बुद्धि चाहिए ना। स्वीट बाप और स्वीट राजधानी के सिवाए और कोई याद न आये। इतना सब त्याग करना कोई मासी का घर नहीं है। बाप को तो बच्चों पर अथाह प्यार है। बच्चे पावन बन जाओ तो तुम पावन दुनिया के मालिक बन जायेंगे। हम तुम्हारे लिए पावन दुनिया की स्थापना कर रहे हैं। इस पतित दुनिया को बिल्कुल खलास करा देते हैं। यहाँ इस पतित दुनिया में हर चीज़ तुमको दु:ख देती है। आयु भी कमती होती जाती है, इनको कहा जाता है वर्थ नाट ए पेनी। कौड़ी और हीरे में फर्क तो होता है ना। तो तुम बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। गाया भी जाता है सच तो बिठो नच। तुम सतयुग में खुशी में डांस करते हो। यहाँ की कोई भी वस्तु से दिल नहीं लगानी है। इनको तो देखते हुए देखना नहीं है, आंखें खुली होते हुए भी जैसे कि नींद हो, परन्तु वह हिम्मत, वह अवस्था चाहिए। यह तो निश्चय है कि यह पुरानी दुनिया होगी ही नहीं। इतना खुशी का पारा चढ़ा रहना चाहिए। चुटकी काटनी चाहिए – अरे, हम शिवबाबा को याद करेंगे तो विश्व की बादशाही मिलेगी। हठयोग से भी बैठना नहीं है। खाते-पीते, काम करते बाप को याद करो। यह भी जानते हो राजधानी स्थापन हो रही है। बाप थोड़ेही कहेंगे दासी बनें। बाप तो कहेंगे पुरूषार्थ करो पावन बनने का। बाप पावन बनाने का पुरूषार्थ कराते हैं तुम फिर पतित बनते हो, कितने झूठ पाप करते हो। हमेशा शिव-बाबा को याद करो तो पाप सब स्वाहा हो जाएं। यह बाबा का यज्ञ है ना। बड़ा भारी यज्ञ है। वह लोग यज्ञ रचते हैं – लाखों रूपया खर्च करते हैं। यहाँ तो तुम जानते हो सारी दुनिया इसमें स्वाहा हो जानी है। बाहर से आवाज़ होगा, भारत में भी फैलेगा। एक तो बाप के साथ बुद्धि का योग हो तो पाप कटें और फिर ऊंच पद भी मिले। बाप का तो फर्ज है बच्चों को पुरूषार्थ कराना। लौकिक बाप तो बच्चों की सेवा करते हैं, सेवा लेते भी हैं। यह बाप तो कहते हैं मैं तुम बच्चों को 21 जन्मों का वर्सा देता हूँ, तो ऐसे बाप को याद जरूर करना है, जिससे पाप कट जाएं। बाकी पानी से थोड़ेही पाप कटते हैं। पानी तो जहाँ-तहाँ है। विलायत में भी नदियाँ हैं तो क्या यहाँ की नदियाँ पावन बनाने वाली, विलायत की नदियाँ पतित बनाने वाली हैं क्या? कुछ भी मनुष्यों में समझ नहीं है। बाप को तो तरस पड़ता है ना। बाप समझाते हैं – बच्चे, ग़फलत मत करो। बाप इतना गुल-गुल बनाते हैं तो मेहनत करनी चाहिए ना। अपने पर रहम करना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) यहाँ की कोई भी वस्तु में दिल नहीं लगानी है। देखते हुए भी नहीं देखना है। आंखें खुली होते भी जैसे नींद का नशा रहता, ऐसे खुशी का नशा चढ़ा हुआ हो।

2) सारा मदार पवित्रता पर है, इसलिए सम्भाल करनी है कि पतित के अंग से अंग न लगे। स्वीट बाप और स्वीट राजधानी के सिवाए और कोई याद न आये।

वरदान:- सेवा द्वारा मेवा प्राप्त करने वाले सर्व हद की चाहना से परे सदा सम्पन्न और समान भव
सेवा का अर्थ है मेवा देने वाली। अगर कोई सेवा असन्तुष्ट बनाये तो वो सेवा, सेवा नहीं है। ऐसी सेवा भल छोड़ दो लेकिन सन्तुष्टता नहीं छोड़ो। जैसे शरीर की तृप्ति वाले सदा सन्तुष्ट रहते हैं वैसे मन की तृप्ति वाले भी सन्तुष्ट होंगे। सन्तुष्टता तृप्ति की निशानी है। तृप्त आत्मा में कोई भी हद की इच्छा, मान, शान, सैलवेशन, साधन की भूख नहीं होगी। वे हद की सर्व चाहना से परे सदा सम्पन्न और समान होंगे।
स्लोगन:- सच्ची दिल से नि:स्वार्थ सेवा में आगे बढ़ना अर्थात् पुण्य का खाता जमा होना।

TODAY MURLI 29 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 29 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 28 October 2019:- Click Here

29/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, while walking and moving around, let this knowledge trickle in your intellects and you will have an abundance of happiness.
Question: Whose company do you children have to be very cautious about?
Answer: You have to remain cautious of the company of those whose intellects do not have remembrance of the Father and whose intellects continue to wander here and there. You should not sit next to them, nor even touch them, because those who do not stay in remembrance spoil the atmosphere.
Question: When will people repent?
Answer: When they become aware that it is God Himself who is teaching you, their faces will go pale and they will repent for the mistake they made of not studying.

Om shanti. You children understand the spiritual pilgrimage very well. There are no pilgrimages of hatha yoga here. This is remembrance. There is no question of difficulty in remembrance. There is no difficulty in remembering the Father. This is a class and so you have to sit in a disciplined way. You have become the children of the Father, and you children are being sustained. Which sustenance are you receiving? You are receiving the treasures of the imperishable jewels of knowledge. There is no difficulty in remembering the Father. It is just that Maya breaks your intellects’ yoga. However, it doesn’t matter how you sit, because that is not connected with remembrance. Many children sit for three to four hours like hatha yogis. They even sit there through the whole night. Previously, you were in a bhatthi, but that was something different. There, you had no business etc. and so you were taught that. The Father now says: Live at home with your family. You may also do your business. Whatever work you do, you have to remember the Father. Don’t think that you can have constant remembrance now; no. It takes time to reach that stage. If you were to have constant remembrance now, you would reach your karmateet stage. The Father explains: Children, according to the dramaplan, there is now little time left. You have the whole account in your intellect. They say that 3000 years before Christ there was just Bharat, and it was called heaven. Their 2000 years are now coming to an end. This makes it an account of 5000 years. It has been seen that your name will be glorified from abroad because their intellects are still sharper than those of the people of Bharat. They also ask Bharat for peace. It is the people of Bharat who speak of hundreds of thousands of years and give the knowledge of omnipresence and spoil their intellects. They have become tamopradhan. Those people have not become so tamopradhan. Their intellects are very sharp. When their sound spreads, the people of Bharat will awaken because the people of Bharat are sleeping in a deep sleep. Those people are sleeping in a light sleep. The sound from them will spread very well. People came from abroad asking for someone to show them how there can be peace. The Father too only comes in Bharat. Only you children can relate these things of how and when there will be peace in the world again. You children know that there truly was Paradise or heaven. When the world was new, Bharat was Paradise. No one else knows that. It is fixed in people’s intellects that God is omnipresent and they have said that the duration of the cycle is hundreds of thousands of years. It is these people of Bharat who have become the ones with the most stone intellects. The Gita and the scriptures etc. all belong to the path of devotion. They will be written again in the same way. Even though you know the drama, the Father will enable you to make effort. You children know that destruction will definitely take place. The Father has come to establish the new world. This is a matter of happiness. When someone passes a difficult examination, he feels happy inside. We feel we have passed all of this and will then go and become deities. Everything depends on studying. You children know that the Father truly does teach you and make you into those (deities). Truly there was Paradiseheaven. The poor helpless people have become completely confused. The unlimited Father is giving you children the knowledge that He has. You praise the Father: Baba is knowledge-full and He is also blissful. He is full of all treasures. Who makes you so wealthy? Why have you come here? To claim your inheritance. If someone is very healthy but has no money, what would happen without money? You have wealth in Paradise. Those who are wealthy here have the intoxication of having so much wealth and factories etc. However, when they leave their bodies, everything is finished. You know that Baba is giving you so many treasures for 21 births. The Father Himself doesn’t become the Master of the treasures. He makes you children the masters. You also know that no one, except God, the Father, can establish peace in the world. The Trimurti and the cycle (together) is a first-class picture. All the knowledge is contained in this cycle. When they see that you have something so wonderful, they will understand that there is definitely some significance in this. Some children make small pictures like toys which Baba doesn’t like. Baba says: Make very large pictures which people can read from a distance and understand. People’s attention is drawn to big things. It is very clearly shown in this (the cycle) that it is the iron age on this side and the golden age on that side. When there are big pictures, people’s attention can be drawn. Tourists will also see them and very clearly understand them. You know that 3000 years before Christ, there was heaven. People outside do not know that. You clearly explain the account of 5000 years. Therefore, you should make such big pictures that people can see them from far away and also be able to read them. Through this they will be able to understand that this is definitely the end of the world. Bombs continue to be prepared. There will also be natural calamities. When you hear the word “destruction” there should be a lot of internal happiness. However, if you have no knowledge, there cannot be happiness. The Father says: Renounce everything including your body and consider yourself to be a soul. Let the yoga of you, the soul, be connected to Me, the Father. This is something that requires effort. It is only after you have become pure that you can go to the pure world. You understand that we claim our sovereignty and then lose it. This is very easy. While you are walking, sitting and moving around, the knowledge should trickle inside you. Baba has knowledge. The Father has come to teach you and to make you into deities. So, you children should have an abundance of happiness. Ask yourself: Do I have such an abundance of happiness? Do I remember the Father that much? You also have all the knowledge of the cycle, and so there should be that much happiness. The Father says: Remember Me and remain in total happiness. Look who is teaching you! When they all become aware of this, their faces will then go pale. However, there is still a little time for them to understand. There are so many members of the deity religion that have not yet been created. The whole kingdom has not yet been established. You have to give the Father’s message to so many people. The unlimited Father is once again giving us the sovereignty of heaven. You too can remember that Father. The unlimited Father would definitely give you unlimited happiness. You children should have an abundance of the happiness of knowledge inside you. To the extent that you continue to remember the Father, you souls will accordingly continue to become pure. According to the drama plan, the more service you children do to create subjects, the more blessings you will receive from those who are benefitted. You serve the poor. Continue to give invitations. You can also do a lot of service on trains. There is so much knowledge contained in such a tiny badge. The essence of the whole study is in this. You should make many very good badges that you can also give to others as a gift. It is very easy to explain to others: Simply remember Shiva Baba. Only from Shiva Baba do you receive this inheritance. Therefore, remember the Father, the Father’s inheritance, the sovereignty of heaven and the land of Krishna. People’s directions are so confusing! They don’t understand anything. They harass others so much for vice. They almost die for lust. They don’t understand anything. Everyone’s intellect is totally finished. They don’t even know the Father. This is also fixed in the drama. Everyone’s mentalability has been totally destroyed. The Father says: Children, become pure and you will become the masters of such a heaven. However, they don’t understand at all. All the power of souls is finished. So much is explained to you but, nevertheless, you do have to make effort and also inspire others. You must not become tired of making effort. You mustn’t have heartfailure either. You made so much effort and yet not a single one emerged from that lecture. However, whoever heard the things you related were imprinted with that. At the end, everyone will definitely know about this. You BKs will be praised a lot in the future. Nevertheless, it is of total senselessness when people see the activityof some. There is no regard for anyone, there isn’t that full recognition. Their intellects continue to wander outside. If they were to remember the Father, they would also be able to receive help. If they don’t remember the Father, it means they are impure. You are becoming pure. The intellects of those who don’t remember the Father definitely wander somewhere or other. So, you must not sit close to such persons, touching them. Because of not staying in remembrance, those people spoil the atmosphere. Pure and impure ones cannot stay together. This is why the Father destroys the old world. Day by day, the laws will also continue to become stricter. If you don’t remember the Father, then, instead of profiting, you bring yourselves greater loss. Everything for purity depends on having remembrance. It is not a question of sitting down in one place. Rather than sitting together here, it is better to sit in solitude in the mountains. Those who don’t have remembrance are impure. You mustn’t even keep their company. You can tell everything from their activity. No one can become pure without having remembrance. There is a big burden of the sin of many births on each one. How could that be removed without the pilgrimage of remembrance? It means they are still impure. The Father says: I finish the whole of the impure world for you children. You must not even keep their company. However, some don’t have enough wisdom to know whose company they should keep. You should have pure love for the pure One. You need to have that much wisdom. Do not remember anyone except the sweet Father and the sweet kingdom. To renounce all of that is not like going to your aunty’s home! The Father has a lot of love for you children. You children become pure and will become the masters of the pure world. I am establishing the pure world for you. He has this impure world totally destroyed. Everything in this impure world here causes you sorrow. Your lifespan also continues to decrease. This is called, “Not worth a penny. There is a difference between diamonds and shells. So, you children should have so much happiness. It is remembered: Where there is truth, the soul dances. In the golden age, you dance in happiness. Do not attach your hearts to anything here. Whilst seeing everything, you must not see it. It should not be that although you have your eyes open, you are asleep. However, you need to have that courage and that stage. You have the faith that the old world will no longer exist. The mercury of happiness should remain so high. You should pinch yourself: If I remember Shiv Baba, I will receive the sovereignty of the world. You mustn’t sit here like a hatha yogi. While eating, drinking and doing your work, remember the Father. You know that a kingdom is being established. The Father does not say that you have to become a maid. The Father says: Make effort to become pure. The Father inspires you to make effort to become pure. You then become impure. You tell so many lies and commit sin. Always remember Shiv Baba and all your sins will be sacrificed. This is Baba’s sacrificial fire. It is a very important sacrificial fire. Those people create sacrificial fires and spend hundreds of thousands of rupees. You know that the whole world is to be sacrificed in this fire here. There will be the sound from abroad and it will spread throughout Bharat. First of all, if your intellects are connected in yoga to the Father, your sins can be cut away and you can also receive a high status. The Father’s duty is to inspire children to make effort. A physical father serves his children and also takes service from them. This Father says: I give you children the inheritance for 21 births and so you must definitely remember such a Father so that your sins can be cut away. However, sins cannot be cut away with water. Water flows everywhere. There are rivers abroad too. So, is it that the rivers here purify everyone, whereas the rivers abroad make everyone impure? People don’t have any understanding at all. The Father feels mercy. The Father explains: Children, do not be careless! The Father makes you so beautiful and so you should make effort. You have to have mercy for yourselves. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not attach your heart to anything here. While seeing everything, do not see it. Just as there is the intoxication of sleep, even while your eyes are open, similarly, there should be the intoxication of happiness.
  2. Everything depends on purity. Therefore, you have to take care not to sit next to or touch an impure person. Do not remember anything other than the sweet Father and the sweet kingdom.
Blessing: May you be constantly full and equal and remain beyond all limited desires and receive the fruit of serving.
To do service means to do that which gives fruit. If any service makes you discontent, that service is not then service. You may stop doing that service, but do not let go of your contentment. Just as those who are physically satisfied always remain content, in the same way, those whose minds are satisfied will be content. Contentment is a sign of satisfaction. A satisfied soul will not be hungry for any limited desires, such as name, honour, salvation or facilities. Such souls will remain constantly beyond any limited desires and be full and equal.
Slogan: To move forward in altruistic service with an honest heart means to accumulate in your account of charity.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 29 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 October 2018 :- Click Here

29/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become obedient. The Father’s first order is: Consider yourself to be a soul and remember the Father.
Question: Why have the vessels of souls become unclean? What is the way to clean them?
Answer: The vessels of souls have become unclean by listening to and speaking of wasteful matters. In order to clean them, the Father’s orders are: Hear no evil! See no evil! Listen to the one Father. Only remember the one Father and vessels of souls will become clean. Souls and bodies will both become pure.
Song: There are showers of rain on those who are with the Beloved. 

Om shanti. You children have understood the meaning of ‘Om shanti’. Points of knowledge are given to you children again and again, just as you are repeatedly told to remember the Father and the inheritance. Here, you do not remember human beings. Human beings only remind you of human beings or deities. Because no human being knows the parlokik Father, none of them can inspire you to remember Him. Here, you are told again and again: Consider yourself to be a soul and remember the Father. When a father has a son, everyone understands that his son has come to claim his inheritance from his father. The child would remember his father and his inheritance. It is the same here. Certainly the children don’t know the Father, which is why He has to come. This knowledge is showered on the children who are with the Father. The knowledge in the Vedas and scriptures is just the paraphernalia of the path of devotion. Chanting, donating, performing charity, evening prayers, mantras etc. – whatever people do is the paraphernalia of the path of devotion. Sannyasis are also devotees. No one can go to the land of peace without having purity. This is why they leave home and go off somewhere. However, not everyone in the whole world would do that. Their hatha yoga is fixed in the drama. I only come once every cycle to teach you children Raja Yoga. I do not incarnate in any other way. It is said: “Reincarnation of God”. He is the Highest on High. Then, there definitely has to be the reincarnation of the world mother and the world father. In fact, the word ‘reincarnation’ is only applied to the Father. Only the one Father is the Bestower of Salvation but, in fact, everything reincarnates again. Because there is now corruption, it would be said: Corruption has reincarnated; they became corrupt once again. Later, there will be righteousness. Everything reincarnates. It is now the old world, and then the new world will come again. It would be said that after the new world, the old world will come again. The Father sits here and explains all of these things. When you sit in remembrance, always think: I am a soul and I have received instructions from the Father to remember Him. No one, apart from you children, can receive instructions from the Father. Among you children too, some are obedient and others are disobedient. The Father says: O souls, connect your intellects in yoga to Me. The Father speaks to you souls. None of the scholars or pundits would say that they are speaking to souls. They consider each soul to be the Supreme Soul. That is wrong. You children know that Shiv Baba is explaining to you through this body. One cannot act without a body. First of all, you need faith. Unless you have faith, nothing will sit in your intellect. First of all, you need the faith that the Father of souls is the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, and that Prajapita Brahma, the Father of People is in the corporeal form. You are Brahma Kumars and Kumaris. All souls are sons of Shiva and so they are called Shiv Kumars, not Shiv Kumaris. You have to imbibe all of these things. It is only when you continue to stay in constant remembrance that you are able to imbibe them. It is only by staying in remembrance that your intellects’ vessels can be cleansed. Because you have been listening to wasteful things, your vessels have become unclean. You have to make them clean. The Father’s instructions are: Remember Me and your intellect will be purified. Alloy has been mixed into souls. Therefore, you now have to become pure. Sannyasis say that souls are immune to the effect of action, whereas the Father says that alloy has been mixed into souls. Both the soul and the body of Shri Krishna are pure, but it is only in the golden age that both are pure; they cannot be pure here. You souls are becoming pure, numberwise. You have not become pure yet. No one has become pure yet. All of you are making effort for this. Everyone’s result will be given, numberwise, at the end. The Father comes and issues this order to all souls: Consider yourselves to be bodiless and remember Me. Become soul conscious. No one but the Father can explain this main thing. If you first of all have full faith in this, you can gain victory. If you do not have faith, you cannot gain victory. “A faithful intellect will be victorious, whereas a doubtful intellect will be led to destruction.” Some words in the Gita are very good. They are called a pinch of salt in a sackful of flour. The Father says: I explain to you the essence of all the Vedas and scriptures. All of those things are from the path of devotion. That too is fixed in the drama. The question of why the path of devotion was created doesn’t arise. This drama is eternally predestined. You have received your inheritance of becoming the masters of heaven from the Father many times in the drama, and you will continue to receive it; it can never end. This cycle rotates eternally. You children are now in the land of sorrow. You are soon to go to the land of peace, and you will go from there to the land of happiness. Then you will go to the land of sorrow. This cycle continues to rotate eternally. It takes you children 5000 years to go from the land of happiness to the land of sorrow and, while doing that, you take 84 births. Only you children take 84 births. Not everyone can take 84 births. The unlimited Father explains this to you children directly. Other children will simply listen to the murli being read, or will read the murli themselves or listen to the tape. Not everyone can listen to the tape. So, first of all, you children have to stay in remembrance as you sit and as you walk etc. People simply turn the beads of a rosary and chant the name of Rama. They speak of the rosary of Rudra. Rudra is God. Then there is the combined bead which represents the dual-form of Vishnu. Who is that? It is the mother and father who become the dual-form of Vishnu, Lakshmi and Narayan. This is why they are called the dual-bead. Shiv Baba is the Tassel, and then the dual-bead is Mama and Baba, who are called the mother and father. Vishnu wouldn’t be called mother and father. Only Lakshmi and Narayan’s children would call them mother and father. People nowadays go in front of anyone and say: You are the Mother and You are the Father. Once someone said this praise, everyone else started to follow it. This is an unrighteous world. The iron age is called the unrighteous world, whereas the golden age is called the righteous world. There, souls and bodies are both pure. In the golden age, Krishna is beautiful and then, by his last birth, that soul has become ugly. Brahma and Saraswati are impure at this time. The soul has become impure and so its jewellery (body) has also become impure (mixed). When gold has alloy mixed with it, the jewellery that is made from it also has alloy mixed with it. When the golden age is governed by the deities, there is nothing that is false or has alloy mixed with it. There, there will be palaces of real gold. Bharat was once the ‘Golden Sparrow’, but it has now become gilded (coated). Only the Father can make this Bharat into such a heaven once again. The Father explains: “Shrimat” means the versions of God. Krishna is a human being with divine virtues; he has two arms and two legs. Lakshmi is shown in those images with four arms and Narayan is also shown with four arms. People don’t understand anything. When they speak of the word “Om”, they say that it means “I am God. Wherever I look, I only see God.” However, that is wrong. “Om” means “I am a soul.” The Father says: I too am a soul, but, because I am the Supreme, I am called the Supreme Soul. I reside in the supreme abode. The Highest on High is God. Then, in the subtle region, there are the souls of Brahma, Vishnu and Shankar. Then, down here, there is this human world. That is the deity world and the other world is the world of souls which is also called the incorporeal world. These matters have to be understood. You children are receiving the donation of the imperishable jewels of knowledge through which you become prosperous and double-crowned in the future. Look at the picture of Shri Krishna: he has both crowns. Then, when that child goes into the moon dynasty, he has two degrees fewer. Then, when he goes into the merchant dynasty, he loses four more degrees and his crown of light no longer remains; only the crown of jewels remains. At that time, whoever gives a lot of donations or performs a lot of charity receives a very good kingdom for one birth. Then, in their next birth, if they donate a lot again, they can receive a kingdom once again. Here, you can claim a kingdom for 21 births, but you do have to make effort. So the Father gives His own introduction. He says: I am the Supreme Soul. This is why He is called the Supreme Father, the Supreme Soul, that is, God. You children remember that Supreme. You are saligrams and He is Shiva. People create a huge lingam of Shiva and saligrams out of clay. No one even knows which souls those memorials represent. Because you children of Shiv Baba make Bharat into heaven, you are worshipped in that form. Then, after you have become deities, you are also worshipped in that form. You do so much service with Shiv Baba that even you saligrams (of clay) are worshipped. It is those who perform the most elevated tasks who are worshipped. Those who perform good tasks in the iron age have memorials built to them. The Father comes every cycle and explains to you the secrets of the world cycle, that is, He makes you swadarshanchakradhari. Vishnu cannot have the swadarshanchakra. He would have become a deity. You are given all of this knowledge now, but when you become Lakshmi and Narayan, you will no longer have this knowledge. Everyone there will have received salvation. You children listen to this knowledge at this time and then claim your kingdom. Once heaven has been established, there is no longer any need for this knowledge. Only when the Father comes does He give the full introduction of the Creator and His creation. Sannyasis defame the mothers, but the Father comes and uplifts the mothers. The Father explains: If it were not for the sannyasis, Bharat would have turned to ashes because everyone is sitting on the pyre of lust. When the deities fall onto the path of sin, there are big earthquakes and everything is swallowed up. No other lands exist at that time. Only Bharat exists at that time. Those of Islam etc. come later on. The things of the golden age do not remain here. The Somnath Temple that you see was not built in heaven. It was built on the path of devotion and was looted by Mahmud Guznavi. However, the palaces of the deities etc. all vanish in the earthquakes. It is not that all the palaces go down below and that the things that have gone down below then come up again. No; they stay underground or disintegrate. If excavations were made at that time, something might be found, but nothing would be found now. These things are not mentioned in the scriptures. Only the one Father is the Bestower of Salvation. First of all, you need this faith. It is in faith that Maya creates obstacles. Some say: How can God come here? Since Shiv Jayanti is celebrated (festival of the birth of Shiva) He must surely have come. The Father has explained: I come at the confluence of the unlimited day and the unlimited night. No one except you children knows at what time I come. The Father has given you this knowledge and has had these pictures made by giving you divine visions. There is some mention of the kalpa tree in the Gita. He says to the children: You and I exist now. We also existed a cycle ago and we will continue to meet cycle after cycle. I will give you this knowledge every cycle. This too proves the cycle. However, only you, and no one else, can understand this. Look at this picture of the whole cycle. Someone must definitely have had it created. The Father explains this, but you children also have to use this picture and explain it. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In every aspect, the basis of victory is faith. Therefore, become those whose intellects have faith. Never doubt the Father, the Bestower of Salvation.
  2. In order to purify and cleanse your intellect, practise becoming bodiless. Do not speak of or listen to wasteful things.
Blessing: May you become volcanic in your Shakti form and give the experience of your spirituality.
Until now there has been the attraction of the Father, the Flame. His task and the children’s task is being carried out in an incognito way. However, when you stabilize yourselves in your Shakti form, the souls who come into contact with you will experience your spirituality. Those who say, “This is good, this is good”, will be inspired to become good when you all collectively become the volcanic form and lighthouse s. When you master almighty authorities come onto this stage, everyone will circle around you like moths.
Slogan: Those who heat their physical senses in the fire of yoga become completely pure.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 29 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 October 2018

To Read Murli 28 October 2018 :- Click Here
29-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – आज्ञाकारी बनो, बाप की पहली आज्ञा है – अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो”
प्रश्नः- आत्मा रूपी बर्तन अशुद्ध क्यों हुआ है? उसको शुद्ध बनाने का साधन क्या है?
उत्तर:- वाह्यात बातों को सुनते और सुनाते आत्मा रूपी बर्तन अशुद्ध बन गया है। इसको शुद्ध बनाने के लिए बाप का फ़रमान है हियर नो ईविल, सी नो ईविल…….. एक बाप से सुनो, बाप को ही याद करो तो आत्मा रूपी बर्तन शुद्ध हो जायेगा। आत्मा और शरीर दोनों पावन बन जायेंगे।
गीत:- जो पिया के साथ है……… 

ओम् शान्ति। ओम् शान्ति का अर्थ तो बच्चों ने समझा हुआ है। बच्चों को घड़ी-घड़ी प्वाइन्ट्स दी जाती हैं। जैसे घड़ी-घड़ी कहा जाता है बाप और वर्से को याद करो। यहाँ कोई मनुष्य की याद नहीं है। मनुष्य, मनुष्य की वा किसी देवता की याद दिलायेंगे। पारलौकिक बाप की याद कोई दिला न सके क्योंकि बाप को कोई जानते नहीं। यहाँ तुमको घड़ी-घड़ी कहा जाता है अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। जैसे बाप को बच्चे होते हैं तो सब समझ सकते हैं यह बाप से वर्सा लेने आया है। फिर उनको बाप और वर्सा याद रहता है। यहाँ भी ऐसे है। जरूर बच्चे बाप को जानते नहीं हैं इसलिए बाप को आना पड़ता है। जो बाप के साथ हैं उन्हों के लिए यह ज्ञान बरसात है। वेद शास्त्रों में जो ज्ञान है वह सब है भक्ति मार्ग की सामग्री। जप, तप, दान, पुण्य, संध्या, गायत्री आदि जो कुछ करते हैं वह सब है भक्ति मार्ग की सामग्री। सन्यासी भी भक्त हुए। पवित्रता बिगर कोई शान्तिधाम में जा नहीं सकते इसलिए वह घरबार छोड़ जाते हैं। परन्तु सारी दुनिया तो ऐसे नहीं करेगी। उन्हों के इस हठयोग की भी ड्रामा में नूँध है। तुम बच्चों को राजयोग सिखलाने कल्प-कल्प एक ही बार आता हूँ। मेरा और कोई अवतार होता नहीं है। रीइनकारनेशन आफ गॉड। वह हुआ ऊंच ते ऊंच। फिर रीइनकारनेशन आफ जगत अम्बा और जगत पिता भी जरूर होने चाहिए। वास्तव में रीइनकारनेशन अक्षर सिर्फ बाप से ही लगता है। सद्गति दाता एक ही बाप है। यूँ तो हर एक चीज़ फिर से रीइनकारनेट होती है। जैसे अभी भ्रष्टाचार है तो कहेंगे भ्रष्टाचार रीइनकारनेट हुआ है। फिर से भ्रष्टाचार हुआ है, फिर से श्रेष्ठाचार आयेगा। रीइनकारनेट तो हर चीज़ का होता है। अभी पुरानी दुनिया है फिर नई दुनिया आयेगी। नई दुनिया के बाद कहेंगे फिर से पुरानी दुनिया आनी है। यह सब बातें बाप बैठ समझाते हैं। जब यहाँ बैठते हो तो हमेशा ऐसे समझो – मैं आत्मा हूँ, मुझे बाप का फ़रमान मिला हुआ है मुझे याद करो। बच्चों के सिवाए तो और कोई को बाप का फ़रमान मिल न सके। फिर बच्चों में कोई तो आज्ञाकारी होते हैं, कोई आज्ञा न मानने वाले भी होते हैं। बाप कहते हैं – हे आत्मायें, तुम मेरे साथ बुद्धि का योग लगाओ। बाप आत्माओं से बात करते हैं, और कोई विद्धान-पण्डित आदि ऐसे नहीं कहेंगे कि मैं आत्माओं से बात करता हूँ। वह तो आत्मा सो परमात्मा समझ लेते हैं। वह है रांग। तुम बच्चे जानते हो कि शिवबाबा इस शरीर द्वारा हमें समझा रहे हैं। शरीर बिगर तो एक्ट हो न सके। पहले-पहले तो यह निश्चय चाहिए। निश्चय बिगर तो कुछ भी बुद्धि में नहीं बैठेगा। पहले निश्चय चाहिए कि हम आत्माओं का बाप वह निराकार परमपिता परमात्मा है और साकार में है प्रजापिता ब्रह्मा, हम हैं ब्रह्माकुमार-कुमारियां। शिव के तो सब आत्मायें बच्चे हैं इसलिए शिवकुमार कहेंगे, कुमारी नहीं। यह सब बातें धारण करनी है। धारणा तब होगी जब निरन्तर याद करते रहेंगे। याद करने से ही बुद्धि रूपी बर्तन शुद्ध होगा। वाह्यात बातें सुनते-सुनते बर्तन अशुद्ध बन गया है, उसको शुद्ध बनाना है। बाप का फ़रमान है मुझे याद करो तो तुम्हारी बुद्धि पवित्र होगी। तुम्हारी आत्मा में खाद पड़ गई है, अब पवित्र बनना है। सन्यासी कहते हैं आत्मा निर्लेप है। बाप कहते हैं आत्मा में ही खाद पड़ी है। श्रीकृष्ण की आत्मा और शरीर दोनों पवित्र हैं। दोनों पवित्र सिर्फ सतयुग में ही होते हैं। यहाँ तो हो नहीं सकते। तुम आत्मायें नम्बरवार पवित्र होती जा रही हो। अभी पवित्र बनी नहीं है। कोई भी पवित्र नहीं है। सब पुरुषार्थ कर रहे हैं। अन्त में नम्बरवार सबकी रिजल्ट निकलेगी।

बाप आकर सभी आत्माओं को फ़रमान करते हैं कि मुझे याद करो, अपने को अशरीरी समझो, देही-अभिमानी बनो। मूल यह बात बाप बिगर कोई समझा नहीं सकते। पहले यह पूरा निश्चय होगा तो विजय पायेंगे, निश्चय नहीं होगा तो विजय नहीं पायेंगे। निश्चय बुद्धि विजयन्ती, संशय बुद्धि विनशयन्ती। गीता में कोई-कोई अक्षर बहुत अच्छे हैं। इसको कहा जाता है आटे में नमक। बाप कहते हैं मैं तुमको सभी वेदों शास्त्रों का सार समझाता हूँ कि इनमें क्या-क्या है? यह सब हैं भक्तिमार्ग के रास्ते। इनकी भी ड्रामा में नूँध है। यह प्रश्न नहीं उठ सकता कि यह भक्तिमार्ग क्यों बनाया हुआ है? यह तो अनादि बना बनाया ड्रामा है। तुमने भी इस ड्रामा में बाप से स्वर्ग के मालिक बनने का वर्सा अनेक बार लिया है और लेते रहेंगे। कभी अन्त नहीं हो सकता। यह चक्र अनादि फिरता ही रहता है। तुम बच्चे अभी दु:खधाम में हो फिर शान्तिधाम में जायेंगे, शान्तिधाम से सुखधाम में जायेंगे फिर दु:खधाम में आयेंगे – यह अनादि चक्र चलता ही रहता है। सुखधाम से दु:खधाम आने में तुम बच्चों को 5 हजार वर्ष लगते हैं। जिसमें तुम 84 जन्म लेते हो। सिर्फ तुम बच्चे ही 84 जन्म लेते हो, सब नहीं ले सकते। यह बेहद का बाप तुमको डायरेक्ट समझा रहे हैं, और बच्चे फिर मुरली सुनेंगे वा पढ़ेंगे या टेप सुनेंगे। टेप भी सब नहीं सुन सकते। तो पहले-पहले तुम बच्चों को उठते-बैठते इस याद में रहना है। मनुष्य तो माला फेरते राम-राम जपते हैं। रुद्राक्ष की माला कहते हैं ना। अब रुद्र तो है भगवान्। फिर इस माला में मेरु दाना इकट्ठा है। वह तो विष्णु के युगल स्वरूप हैं। वह कौन हैं? यह मात-पिता जो फिर विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण बनते हैं इसलिए इनको मेरु कहा जाता है। फूल है शिवबाबा फिर मेरु यह मम्मा-बाबा जिनको मात-पिता कहते हो। विष्णु को मात-पिता नहीं कह सकेंगे। लक्ष्मी-नारायण को मात-पिता तो उनके बच्चे ही कहेंगे। आजकल तो सबके आगे जाकर कहते हैं त्वमेव माताश्च पिता….. बस, कोई एक ने महिमा की तो उनके पीछे फालो करने लग पड़ते। यह है ही अनराइटियस दुनिया। कलियुग को कहा जाता है अनराइटियस, सतयुग को कहा जाता है राइटियस। वहाँ आत्मा और शरीर दोनों पवित्र होते हैं। सतयुग में कृष्ण गोरा है, फिर अन्तिम जन्म में उनकी आत्मा सांवरी बनी है। यह ब्रह्मा-सरस्वती इस समय सांवरे हैं ना। आत्मा काली बन गई है तो उनका जेवर भी काला बन गया है। सोने में ही खाद पड़ती है, उससे जेवर भी जो बनता है वह खाद वाला। सतयुग में जब देवी-देवताओं की गवर्मेन्ट है तो यह झूठ (खाद) होती नहीं। वहाँ तो सोने के महल बनते है। भारत सोने की चिड़िया था, अभी तो मुलम्मा है। ऐसे भारत को फिर से स्वर्ग बाप ही बना सकते हैं।

बाप समझाते हैं, श्रीमत भगवानुवाच है ना। कृष्ण तो दैवीगुणों वाला है, दो भुजा, दो टांग वाला है। चित्रों में तो कहाँ नारायण को, कहाँ लक्ष्मी को 4 भुजायें दी हैं। समझते कुछ भी नहीं। ‘ओम्’ अक्षर भी कहते हैं, ओम् का अर्थ बताते हैं – ओम् माना मैं गॉड, जिधर देखता हूँ गॉड ही गॉड है। परन्तु यह तो रांग है। ओम् माना अहम् आत्मा। बाप भी कहते हैं अहम् आत्मा परन्तु मैं सुप्रीम हूँ इसलिए मुझे परमात्मा कहा जाता है। मैं परमधाम में रहता हूँ। ऊंचे ते ऊंच भगवान् फिर सूक्ष्मवतन में ब्रह्मा-विष्णु-शंकर की आत्मा है। फिर नीचे आओ तो यह मनुष्य लोक है। वह दैवी लोक, वह आत्माओं का लोक जिसको मूलवतन कहा जाता है। यह बातें समझने की हैं। तुम बच्चों को यह अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान मिलता है जिससे तुम भविष्य में मालामाल डबल सिरताज बनते हो। देखो, श्रीकृष्ण को दोनों ताज है ना। फिर वही बच्चा चन्द्रवंशी में आता है तो दो कला कम हो जाती हैं। फिर वैश्य वंशी में आयेंगे तो और 4 कला कम हो जायेगी। फिर लाइट का ताज उड़ जायेगा। बाकी रत्न जड़ित ताज रहेगा। फिर जो अच्छा दान-पुण्य करते हैं, उनको एक जन्म के लिये अच्छी राजाई मिलती है। फिर दूसरे जन्म में भी अच्छा दान-पुण्य किया तो फिर भी राजाई मिल सकती है। यहाँ तो तुम 21 जन्मों के लिए राजाई पा सकते हो, मेहनत करनी पड़ती है। तो बाप अपना परिचय देते हैं, कहते हैं – आई एम सुप्रीम सोल इसलिए उनको परमपिता परम आत्मा अर्थात् परमात्मा कहा जाता है। तुम बच्चे उस सुप्रीम को याद करते हो। तुम हो सालिग्राम, वह है शिव। शिव का बड़ा लिंग और सालिग्राम मिट्टी के बनाते हैं। यह कौन सी आत्माओं का यादगार बनाते हैं, यह भी कोई नहीं जानते। तुम शिवबाबा के बच्चे भारत को स्वर्ग बनाते हो इसलिए तुम्हारी पूजा होती है। फिर तुम देवता बनते हो तब भी तुम्हारी पूजा होती है। शिवबाबा के साथ तुम इतनी सर्विस करते हो इसलिए सालिग्रामों की भी पूजा होती है। जो उत्तम से उत्तम कर्तव्य करते हैं, उन्हों की पूजा होती है और कलियुग में जो अच्छा काम करते है उन्हों का यादगार बनाते हैं। कल्प-कल्प बाप तुम बच्चों को सारे सृष्टि चक्र का राज़ समझाते है अर्थात् तुमको स्वदर्शन चक्रधारी बनाते हैं। स्वदर्शन चक्र विष्णु को नहीं हो सकता, वह तो देवता बन गया। यह ज्ञान सारा तुमको है। फिर लक्ष्मी-नारायण बनेंगे तो यह ज्ञान नहीं रहेगा। वहाँ तो सब सद्गति में हैं। तुम बच्चे यह ज्ञान अभी ही सुनते हो फिर राजाई पा लेते हो। स्वर्ग की स्थापना हो गई फिर ज्ञान की दरकार नहीं रहती।

बाप ही आकर अपना और रचना का पूरा परिचय देते हैं। सन्यासियों ने माताओं की निंदा की है, परन्तु बाप आकर माताओं को उठाते हैं। बाप यह भी समझाते हैं कि यह सन्यासी न होते तो भारत काम चिता पर बैठ एकदम ख़ाक हो जाता। जब देवी-देवता वाम मार्ग में गिरते हैं तो उस समय अर्थक्वेक बड़ी जोर की होती है फिर सब नीचे चला जाता है। और खण्ड आदि तो होते नहीं, भारत ही होता है। इस्लामी आदि तो पीछे आते हैं तो फिर वह सतयुग की चीजें यहाँ रहती नहीं। तुम जो सोमनाथ का मन्दिर देखते हो वह कोई वैकुण्ठ का नहीं है। यह तो भक्ति मार्ग में बना है, जिसको मुहम्मद गज़नवी आदि ने लूटा। बाकी देवताओं के महल आदि सब अर्थक्वेक में गायब हो जाते हैं। ऐसे नहीं कि महल के महल नीचे गये हैं वही फिर ऊपर आ जायेंगे। नहीं, वह तो अन्दर ही टूट फूट सड़ जाते हैं। फिर उसी समय खोदते हैं तो कुछ न कुछ मिलता है। अभी तो कुछ भी नहीं मिलता है। शास्त्रों में कोई यह बातें नहीं हैं। सद्गति दाता है ही एक बाप। पहले-पहले तो यह निश्चय चाहिए। निश्चय में ही माया विघ्न डालती है। कहते हैं भगवान् कैसे आयेगा? अरे, शिव जयन्ती है तो जरूर आये होंगे। बाप ने समझाया है मैं बेहद के दिन और बेहद की रात के संगम पर आता हूँ। यह कोई नहीं जानते कि किस समय आता हूँ? तुम बच्चे जानते हो। बाप ने ही यह नॉलेज दी है और दिव्य दृष्टि से यह चित्र आदि बनवाये हैं। गीता में भी कल्प वृक्ष का कुछ वर्णन है। बच्चों को कहते हैं हम तुम अभी हैं, कल्प पहले भी थे और फिर कल्प-कल्प मिलते रहेंगे। मैं कल्प-कल्प तुमको यह ज्ञान दूँगा। तो चक्र भी सिद्ध होता है। परन्तु तुम्हारे सिवाए कोई समझ न सके। यह सारे सृष्टि चक्र का चित्र है, जरूर कोई ने बनवाया है। बाप भी इस पर, बच्चे भी इस पर समझाते है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हर बात में विजय का आधार निश्चय है इसलिए निश्चयबुद्धि जरूर बनना है। सद्गति दाता बाप में कभी संशय नहीं उठाना है।

2) बुद्धि को पवित्र वा शुद्ध बनाने के लिए अशरीरी बनने का अभ्यास करना है। वाह्यात (व्यर्थ) बातें न सुननी है, न सुनानी है।

वरदान:- अपने शक्ति स्वरूप द्वारा अलौकिकता का अनुभव कराने वाले ज्वाला रूप भव
अभी तक बाप शमा की आकर्षण है, बाप का कर्तव्य चल रहा है, बच्चों का कर्तव्य गुप्त है। लेकिन जब आप अपने शक्ति स्वरूप में स्थित होंगे तो सम्पर्क में आने वाली आत्मायें अलौकिकता का अनुभव करेंगी। अच्छा-अच्छा कहने वालों को अच्छा बनने की प्रेरणा तब मिलेगी जब संगठित रूप में आप ज्वाला स्वरूप, लाइट हाउस बनेंगे। मास्टर सर्वशक्तिमान् की स्टेज, स्टेज पर आ जाए तो सभी आपके आगे परवाने समान चक्र लगाने लग जायें।
स्लोगन:- अपनी कर्मेन्द्रियों को योग अग्नि में तपाने वाले ही सम्पूर्ण पावन बनते हैं।
Font Resize