29 november ki murli

TODAY MURLI 29 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 29 November 2020

29/11/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
23/01/87

The specialities of the stars of success.

Today, the Sun of Knowledge and the moon of knowledge are seeing their sparkling galaxy. Those are stars of the sky and these are stars of the earth. Those stars are part of nature and these are Godly stars, spiritual stars. Those stars emerge at night and these spiritual stars, the stars of knowledge, the sparkling stars, emerge in the night of Brahma. Those stars do not change night into day; it is just the sun that changes night into day. However, you stars become companions of the Sun of Knowledge and the moon of knowledge and change night into day. Just as you can see many types of star sparkling in the physical galaxy, similarly, many different types of star can be seen sparkling in God’s galaxy. Some are close stars and others are stars that are far away. Some are stars of success and others are stars of hope. Some maintain one stage and others have a stage that keeps changing. Those stars change their position whereas here they change their stage. Just as in a physical galaxy – you have comets, similarly, here too, you have stars who have a tail of question marks in every task: “Why this? What is this?” Just as comets are said to have a “heavy” (strong) influence on the earth, in the same way, those who constantly ask the same questions also make the atmosphere in the Brahmin family heavy. All of you are experienced in this. When there is a tail in your thoughts about yourself as to “Why?” or “What?”, the stage of the self, of your mind and intellect becomes heavy. Along with that, if there is a tail of question marks such as “Why? What? Not like that, but like this,” in a gathering or in any task of service, then the atmosphere of the gathering or the field of service immediately becomes heavy. So, that immediately affects you, the gathering and the service. Some stars of the sky fall down from the sky, and what do they then become? Stones. With the Godly stars, too, when they come down from the elevated stage of their faith, relationships and personal dharna, they become those with stone intellects. How do they become those with stone intellects? No matter how much water is poured onto a stone, the stone will not melt; it will change its form, but it will not melt. A stone is not able to absorb anything. In the same way, when they become those with stone intellects, then, no matter how hard you try to make them realise something good, they will not be able to realise it. No matter how much water of knowledge you pour into them, they will not change. The situations will keep changing, but they themselves will not change. This is known as becoming one with a stone intellect. So, ask yourself: What type of star am I in this Godly galaxy?

A most elevated star is a star of success. A star of success means one who continues to experience success in self-progress, that is, one who always experiences success easily through his method making of effort. Those who are stars of success will never have thoughts about their own efforts such as, “I don’t know whether this will happen or not”, “Will I be able to do this or not?” They will not experience the slightest lack of success. Just as there is the slogan “Success is your birthright”, so too, they will always experience success as a right for themselves. The definition of having a right is that you attain it without having to labour and without asking for it. When you attain something easily and automatically, it is a known as having a right. In the same way, one thing is success for the self and the other is success when coming into relationships and connections with others. Whether they are Brahmin souls or from your lokik family or your connections through your lokik work, in all your relationships and connections, on the basis of having a right to success, no matter how difficult something may be, you will experience it to be easy, that is, you will continue to make progress and be successful. Yes, it can take time, but you will definitely attain a right to success. In the same way, whether in physical tasks or tasks of alokik service, in both contexts they will have faith in their intellects that they will have success in their actions. Sometimes they may have to face situations, they may even have to tolerate people, but that tolerance becomes a way for them to make progress. By facing situations, the situation becomes a means for their stage to go into the flying stage, that is, they will definitely attain success easily and automatically in everything.

The special sign of the stars of success is that they never have any arrogance of their own success. They do not speak about it, they do not sing their own praise, but rather to the extent that they have success, they are humble, creative and have a pure and gentle nature. Others sing their praise but they themselves always sing the Father’s praise. Stars of success never have any questions. They always remain stable in the form of a point, and in every task they remind others of the point of the dramaThey enable them to be destroyers of obstacles and give them power and continue to take them close to the destination of their success. Seeing the attainment of limited success, stars of success neither become very happy when there is attainment nor does their happiness go down, if any other situation arises or there is lack of attainment; they do not have a stage that keeps changing. They are always images of success in an unlimited way. They remain constant and stable in one elevated stage. In external situations or tasks, others may experience there to be failure externally, but stars of success are not influenced by failure: they will transform failure into success with their original stage of being successful. These are the specialities of stars of success. Now, ask yourself: Who am I? Am I simply a star of hope or am I an embodiment of success? It is good to have hope, but simply to move along as one who has hope and not to experience success practically makes you sometimes powerful and sometimes disheartened. You experience this fluctuation a lot. In any situation, where there is a lot of fluctuation there is then tiredness. So, here, too, while you are walking and moving along, the experience of tiredness makes you disheartened. So, rather than having no hope, it is good to have hope, but someone who experiences being an embodiment of success is always elevated. Achcha. Did you hear the story of the galaxy? It isn’t just the hall of Madhuban that is the galaxy, but the unlimited Brahmin world is the galaxy. Achcha.

All those who have come are new children; you are new as well as very old because you are those from many cycles, and so you are very old. So, the new zeal and enthusiasm of the new children to celebrate a meeting that is fixed in the drama has now been fulfilled. You had a lot of enthusiasm. I want to go, I want to go… you had so much enthusiasm that you didn’t even listen to directions. You were totally lost in the intoxication of meeting. You were told so often that few people should come, that only a few should come; but did anyone listen? BapDada is pleased to see every scene of the drama, that so many children had to come and this is why they came. All of you have received everything easily, have you not? It is not difficult, is it? This too is a rehearsal that is taking place according to the drama. All of you are happy, are you not? You are those who make anything difficult easy, are you not? To give co-operation in every task and to co-operate with any direction you are given means to make it easy. If you become co-operative, then even 5000 can be accommodated in this hall, whereas if you are not co-operative, that is, if you do not follow the systems, it would be difficult to accommodate even 500. Therefore, show the Dadis your record before you go, that it emerges from everyone’s heart that the 5000 were accommodated as though there were just 500. This is known as making something difficult easy. So, all of you have made a good record of yourself, have you not? You are receiving a good certificate. Always remain happy in this way and make others happy and you will constantly continue to applaud. Your record is good. Therefore, look, according to the drama, you had a chance to meet twice. This is hospitality for the new ones, according to the drama. Achcha.

To the constant, spiritual, elevated stars of success, to those who make the world shine with their constantly stable stage, to those who constantly stay with the Sun of Knowledge and the moon of knowledge, to those who always have the intoxication of faith and who remain humble, to all such sparkling stars of the Godly galaxy, spiritual love, remembrance and namaste from BapDada, the Sun of Knowledge and the moon of knowledge.

BapDada meeting groups:

1) Do you always consider yourselves to be free from obstacles and victorious jewels? It is good for obstacles to come, but do not let the obstacles defeat you. The obstacles become the means to make you strong for all time. Consider the obstacles to be an entertaining game and overcome them. This is known as being free from obstacles and becoming victorious. So, you are not afraid of obstacles, are you? When you have the Father’s company, there is no question of being afraid. When someone is alone, he is afraid. However, when you have someone with you, you are not afraid; you become brave at that time. So, when you have the Father’s company, will the obstacle be afraid or will you be afraid? What are obstacles in front of the Almighty Authority? Nothing at all! This is why the obstacles seem like a game; they are not anything difficult. Obstacles make you experienced and powerful. Those who are constantly engaged in having remembrance of the Father and in doing service and are busy remaining free from obstacles. If your intellect is not busy, then obstacles and Maya come. If you keep busy, then Maya steps aside. She will not come, she will go away. Maya too knows that you are not her companion and that you are now God’s companion. So, she then steps aside. You have been victorious countless times, and it is therefore not a big thing for you to gain victory. You find whatever task you have done many times easy. So, you are victorious many times over. You are those who stay constantly happy, are you not? Mothers, do you always remain happy? Do you ever cry? If you were faced with any such situation, would you cry? You are courageous. Pandavas, you do not cry in your mind, do you? “Why did this happen? What happened?” You don’t cry in this way, do you? If, after belonging to the Father, you are not constantly happy, when would you be happy? To belong to the Father means to be constantly happy. Neither do you have sorrow nor do you cry in sorrow. All your sorrow has been removed. So, always remember this blessing of yours. Achcha.

2) Do you consider yourselves to be spiritual roses in this spiritual garden? Out of all the flowers, roses are loved the most because of their fragrance. So, those are roses and all of you are spiritual roses. A spiritual rose means one who always has spiritual fragrance. Wherever you spiritual roses look, whoever you see, you only see the spirit, you don’t even look at the body. You yourself will always remain in a spiritual stage and you will always look at the spirit (soul) of others. This is known as being a spiritual rose. This is the Father’s garden. Just as the Father is the Highest on High, the garden too is the highest on high and the special decoration of this garden are all of you spiritual roses. This spiritual fragrance will benefit many souls.

The reason for all the difficulties in the world today is that they don’t see one another as spirits (souls). All the problems are because of body consciousness. If they became soul conscious, all the problems would end. You spiritual roses are instruments to spread spiritual fragrance in the world. Do you always have this intoxication? Not one thing one moment and something else the next; there is power in having a constantly stable stage. When your stage keeps changing, your power is reduced. Constantly stay in remembrance of the Father and, whenever there is a way of doing service, take that chance and continue to move forward. Consider yourselves to be spiritual roses of God’s garden and continue to spread spiritual fragrance. It is such a sweet spiritual fragrance, which everyone wants. This spiritual fragrance benefits many souls as well as yourselves. BapDada continues to see how much and how far you continue to spread this spiritual fragrance. If the slightest body consciousness becomes mixed with it, there won’t be that original spiritual fragrance. With this spiritual fragrance, always continue to make others fragrant. Are you always unshakeable? No upheaval makes you fluctuate, does it? When something happens or you hear or see something, you don’t come into upheaval, do you? When it is nothing new why should you fluctuate? There would be fluctuation if it were something new. All of this “why? what?” has happened over many cycles, and this is called having an intellect with the faith that it is fixed in the drama. You are companions of the Almighty Authority, and you are therefore carefree emperors. You have given all your worries to the Father and so you yourselves have become carefree emperors for all time. Always continue to spread spiritual fragrance and all obstacles will end. Achcha.

Blessing: May you be a well-wisher for everyone and also have positive thoughts for yourself and thereby bring the time of revelation close.
The basis of success in service is to have an attitude of good wishes, because this attitude of yours will increase the power in others to imbibe and to find out more. Through this, service done with words will easily be successful. A soul who has positive thoughts for the self will always be Maya-proof and will also be immune to imbibing anyone’s weaknesses and immune to being attracted to any person or possession. When you put both of these blessings into your practical life, the time for revelation will come.
Slogan: Surrender even your thoughts and all weaknesses will automatically go away.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 29 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

29-11-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 23-01-87 मधुबन

सफलता के सितारे की विशेषतायें

आज ज्ञान-सूर्य, ज्ञान-चन्द्रमा अपने चमकते हुए तारामण्डल को देख रहे हैं। वह आकाश के सितारे हैं और यह धरती के सितारे हैं। वह प्रकृति की सत्ता है, यह परमात्म-सितारे हैं, रूहानी सितारे हैं। वह सितारे भी रात को ही प्रगट होते हैं, यह रूहानी सितारे, ज्ञान-सितारे, चमकते हुए सितारे भी ब्रह्मा की रात में ही प्रगट होते हैं। वह सितारे रात को दिन नहीं बनाते, सिर्फ सूर्य रात को दिन बनाता है। लेकिन आप सितारे ज्ञान-सूर्य, ज्ञान चन्द्रमा के साथ साथी बन रात को दिन बनाते हो। जैसे प्रकृति के तारामण्डल में अनेक प्रकार के सितारे चमकते हुए दिखाई देते हैं, वैसे परमात्म-तारामण्डल में भी भिन्न-भिन्न प्रकार के सितारे चमकते हुए दिखाई दे रहे हैं। कोई समीप के सितारे हैं और कोई दूर के सितारे भी हैं। कोई सफलता के सितारे हैं तो कोई उम्मींदवार सितारे हैं। कोई एक स्थिति वाले हैं और कोई स्थिति बदलने वाले हैं। वह स्थान बदलते, यहाँ स्थिति बदलते। जैसे प्रकृति के तारामण्डल में पुच्छलतारे भी हैं अर्थात् हर बात में, हर कार्य में “यह क्यों”, “यह क्या”-यह पूछने की पूँछ वाले अर्थात् क्वेश्चन मार्क करने वाले पुच्छलतारे हैं। जैसे प्रकृति के पुच्छलतारे का प्रभाव पृथ्वी पर भारी माना जाता है, ऐसे बार-बार पूछने वाले इस ब्राह्मण परिवार में वायुमण्डल भारी कर देते हैं। सभी अनुभवी हो। जब स्वयं के प्रति भी संकल्प में “क्या” और “क्यों” का पूँछ लग जाता है तो मन और बुद्धि की स्थिति स्वयं प्रति भारी बन जाती है। साथ-साथ अगर किसी भी संगठन के बीच वा सेवा के कार्य प्रति क्यों, क्या, ऐसा, कैसा,.. – यह क्वेश्चन मार्क की क्यू का पूँछ लग जाता है तो संगठन का वातावरण वा सेवा क्षेत्र का वाता-वरण फौरन भारी बन जाता है। तो स्वयं प्रति, संगठन वा सेवा प्रति प्रभाव पड़ जाता है ना। साथ-साथ कई प्रकृति के सितारे ऊपर से नीचे गिरते भी हैं, तो क्या बन जाते हैं? पत्थर। परमात्म-सितारों में भी जब निश्चय, सम्बन्ध वा स्व-धारणा की ऊंची स्थिति से नीचे आ जाते हैं तो पत्थर बुद्धि बन जाते हैं। कैसे पत्थरबुद्धि बन जाते? जैसे पत्थर को कितना भी पानी डालो लेकिन पत्थर पिघलेगा नहीं, रूप बदल जाता है लेकिन पिघलेगा नहीं। पत्थर को कुछ भी धारण नहीं होता है। ऐसे ही जब पत्थरबुद्धि बन जाते तो उस समय कितना भी, कोई भी अच्छी बात महसूस कराओ तो महसूस नहीं करते। कितना भी ज्ञान का पानी डालो लेकिन बदलेंगे नहीं। बातें बदलते रहेंगे लेकिन स्वयं नहीं बदलेंगे। इसको कहते हैं पत्थरबुद्धि बन जाते हैं। तो अपने आप से पूछो-इस परमात्म-तारामण्डल के सितारों बीच मैं कौनसा सितारा हूँ?

सबसे श्रेष्ठ सितारा है सफलता का सितारा। सफलता का सितारा अर्थात् जो सदा स्वयं की प्रगति में सफलता को अनुभव करता रहे अर्थात् अपने पुरूषार्थ की विधि में सदैव सहज सफलता अनुभव करता रहे। सफलता के सितारे संकल्प में भी स्वयं के पुरूषार्थ प्रति भी कभी “पता नहीं यह होगा या नहीं होगा”, “कर सकेंगे या नहीं कर सकेंगे” – यह असफलता का अंशमात्र भी नहीं होगा। जैसे स्लोगन है – सफलता जन्म-सिद्ध अधिकार है, ऐसे वह स्वयं प्रति सदा सफलता अधिकार के रूप में अनुभव करेंगे। अधिकार की परिभाषा ही है बिना मेहनत, बिना मांगने के प्राप्त हो। सहज और स्वत: प्राप्त हो – इसको कहते हैं अधिकार। ऐसे ही एक – स्वयं प्रति सफलता, दूसरा – अपने सम्बन्ध-सम्पर्क में आते हुए, चाहे ब्राह्मण आत्माओं के, चाहे लौकिक परिवार वा लौकिक कार्य के सम्बन्ध में, सर्व सम्बन्ध-सम्पर्क में, सम्बन्ध में आते, सम्पर्क में आते कितनी भी मुश्किल बात को सफलता के अधिकार के आधार से सहज अनुभव करेंगे अर्थात् सफलता की प्रगति में आगे बढ़ते जायेंगे। हाँ, समय लग सकता है लेकिन सफलता का अधिकार प्राप्त होकर ही रहेगा। ऐसे, स्थूल कार्य वा अलौकिक सेवा का कार्य अर्थात् दोनों क्षेत्र के कर्म में सफलता के निश्चयबुद्धि विजयी रहेंगे। कहाँ-कहाँ परिस्थिति का सामना भी करना पड़ेगा, व्यक्तियों द्वारा सहन भी करना पड़ेगा लेकिन वह सहन करना उन्नति का रास्ता बन जायेगा। परिस्थिति को सामना करते, परिस्थिति स्वस्थिति के उड़ती कला का साधन बन जायेगी अर्थात् हर बात में सफलता स्वत: सहज और अवश्य प्राप्त होगी।

सफलता का सितारा, उसकी विशेष निशानी है – कभी भी स्व की सफलता का अभिमान नहीं होगा, वर्णन नहीं करेगा, अपने गीत नहीं गायेगा लेकिन जितनी सफलता उतना नम्रचित, निर्माण, निर्मल स्वभाव होगा। और (दूसरे) उसके गीत गायेंगे लेकिन वह स्वयं सदा बाप के गुण गायेगा। सफलता का सितारा कभी भी क्वेश्चन मार्क नहीं करेगा। सदा बिन्दी रूप में स्थित रह हर कार्य में औरों को भी ‘ड्रामा की बिन्दी’ स्मृति में दिलाए, विघ्न-विनाशक बनाए, समर्थ बनाए सफलता की मंजिल के समीप लाता रहेगा। सफलता का सितारा कभी भी हद की सफलता के प्राप्ति को देख प्राप्ति की स्थिति में बहुत खुशी और परिस्थिति आई वा प्राप्ति कुछ कम हुई तो खुशी भी कम हो जाये – ऐसी स्थिति परिवर्तन करने वाले नहीं होंगे। सदा बेहद के सफलतामूर्त होंगे। एकरस, एक श्रेष्ठ स्थिति पर स्थित होंगे। चाहे बाहर की परिस्थिति वा कार्य में बाहर के रूप से औरों को असफलता अनुभव हो लेकिन सफलता का सितारा असफलता की स्थिति के प्रभाव में न आकर, सफलता के स्वस्थिति से असफलता को भी परिवर्तन कर लेगा। यह है सफलता के सितारे की विशेषतायें। अभी अपने से पूछो – मैं कौन हूँ? सिर्फ उम्मीदवार हूँ वा सफलता-स्वरूप हूँ? उम्मींदवार बनना भी अच्छा है, लेकिन सिर्फ उम्मींदवार बन चलना, प्रत्यक्ष सफलता का अनुभव न करना, इसमें कभी शक्तिशाली, कभी दिलशिकस्त… यह नीचे-ऊपर होने का ज्यादा अनुभव करते हैं। जैसे कोई भी बात में अगर ज्यादा नीचे-ऊपर होता रहे तो थकावट हो जाती है ना। तो इसमें भी चलते-चलते थकावट का अनुभव दिलशिकस्त बना देता है। तो नाउमीदवार से उम्मीदवार अच्छा है, लेकिन सफलता-स्वरूप का अनुभव करने वाला सदा श्रेष्ठ है। अच्छा। सुना – तारामण्डल की कहानी? सिर्फ मधुबन का हाल तारामण्डल नहीं है, बेहद ब्राह्मण संसार तारामण्डल है। अच्छा।

सभी आने वाले नये बच्चे, नये भी हैं और पुराने भी बहुत हैं क्योंकि अनेक कल्प के हो, तो अति पुराने भी हो। तो नये बच्चों का नया उमंग-उत्साह मिलन मनाने का ड्रामा की नूँध प्रमाण पूरा हुआ। बहुत उमंग रहा ना। जायें-जायें… इतना उमंग रहा जो डायरेक्शन भी नहीं सुना। मिलन की मस्ती में मस्त थे ना। कितना कहा – कम आओ, कम आओ, तो कोई ने सुना? बापदादा ड्रामा के हर दृश्य को देख हर्षित होते हैं कि इतने सब बच्चों को आना ही था, इसलिए आ गये हैं। सब सहज मिल रहा है ना? मुश्किल तो नहीं है ना? यह भी ड्रामा अनुसार, समय प्रमाण रिहर्सल हो रही है। सभी खुश हो ना? मुश्किल को सहज बनाने वाले हो ना? हर कार्य में सहयोग देना, जो डायरेक्शन मिलते हैं उसमें सहयोगी बनना अर्थात् सहज बनाना। अगर सहयोगी बनते हैं तो 5000 भी समा जाते हैं और सहयोगी नहीं बनते अर्थात् विधिपूर्वक नहीं चलते तो 500 भी समाना मुश्किल है, इसलिए दादियों को ऐसा अपना रिकार्ड दिखाकर जाना जो सबके दिल से यही निकले कि 5000, पांच सौ के बराबर समाए हुए थे। इसको कहते हैं मुश्किल को सहज करना। तो सबने अपना रिकार्ड बढ़िया भरा है ना? सर्टिफिकेट (प्रमाण-पत्र) अच्छा मिल रहा है। ऐसे ही सदा खुश रहना और खुश करना, तो सदा ही तालियाँ बजाते रहेंगे। अच्छा रिकार्ड है, इसलिए देखो, ड्रामा अनुसार दो बार मिलना हुआ है! यह नयों की खातिरी ड्रामा अनुसार हो गई है। अच्छा।

सदा रूहानी सफलता के श्रेष्ठ सितारों को, सदा एकरस स्थिति द्वारा विश्व को रोशन करने वाले, ज्ञान-सूर्य, ज्ञान-चन्द्रमा के सदा साथ रहने वाले, सदा अधिकार के निश्चय से नशे और नम्रचित स्थिति में रहने वाले, ऐसे परमात्म-तारामण्डल के सर्व चमकते हुए सितारों को ज्ञान-सूर्य, ज्ञान-चन्द्रमा बापदादा की रूहानी स्नेह सम्पन्न यादप्यार और नमस्ते।

पार्टियों से मुलाकाल

(1) अपने को सदा निर्विघ्न, विजयी रत्न समझते हो? विघ्न आना, यह तो अच्छी बात है लेकिन विघ्न हार न खिलाये। विघ्नों का आना अर्थात् सदा के लिए मजबूत बनाना। विघ्न को भी एक मनोरंजन का खेल समझ पार करना – इसको कहते हैं निर्विघ्न विजयी। तो विघ्नों से घबराते तो नहीं? जब बाप का साथ है तो घबराने की कोई बात ही नहीं। अकेला कोई होता है तो घबराता है। लेकिन अगर कोई साथ होता है तो घबराते नहीं, बहादुर बन जाते हैं। तो जहाँ बाप का साथ है, वहाँ विघ्न घबरायेगा या आप घबरायेंगे? सर्वशक्तिवान के आगे विघ्न क्या है? कुछ भी नहीं इसलिए विघ्न खेल लगता, मुश्किल नहीं लगता। विघ्न अनुभवी और शक्तिशाली बना देता है। जो सदा बाप की याद और सेवा में लगे हुए हैं, बिजी हैं, वह निर्विघ्न रहते हैं। अगर बुद्धि बिजी नहीं रहती तो विघ्न वा माया आती है। अगर बिजी रहे तो माया भी किनारा कर लेगी। आयेगी नहीं, चली जायेगी। माया भी जानती है कि यह मेरा साथी नहीं है, अभी परमात्मा का साथी है। तो किनारा कर लेगी। अनगिनत बार विजयी बने हो, इसलिए विजय प्राप्त करना बड़ी बात नहीं है। जो काम अनेक बार किया हुआ होता है, वह सहज लगता है। तो अनेक बार के विजयी। सदा राज़ी रहने वाले हो ना? मातायें सदा खुश रहती हो? कभी रोती तो नहीं? कभी कोई परिस्थिति ऐसी आ जाये तो रोयेंगी? बहादुर हो। पाण्डव मन में तो नहीं रोते? यह “क्यों हुआ”,“ क्या हुआ” – ऐसा रोना तो नहीं रोते? बाप का बनकर भी अगर सदा खुश नहीं रहेंगे तो कब रहेंगे? बाप का बनना माना सदा खुशी में रहना। न दु:ख है, न दु:ख में रोयेंगे। सब दु:ख दूर हो गये। तो अपने इस वरदान को सदा याद रखना। अच्छा।

(2) अपने को इस रूहानी बगीचे के रूहानी रूहे-गुलाब समझते हो? जैसे सभी फूलों में गुलाब का पुष्प खुशबू के कारण प्यारा लगता है। तो वह है गुलाब और आप सभी हैं रूहे गुलाब। रूहे गुलाब अर्थात् जिसमें सदा रूहानी खुशबू हो। रूहानी खुशबू वाले जहाँ भी देखो, जिसको भी देखो तो रूह को देखो, शरीर को नहीं देखो। स्वयं भी सदा रूहानी स्थिति में रहेंगे और दूसरों की भी रूह को देखेंगे। इसको कहते हैं रूहानी गुलाब। यह बाप का बगीचा है। जैसे बाप ऊंचे ते ऊंचा है, ऐसे बगीचा भी ऊंचे ते ऊंचा है जिस बगीचे का विशेष श्रृंगार रूहे गुलाब – आप सभी हो और यह रूहानी खुशबू अनेक आत्माओं का कल्याण करने वाली है।

आज विश्व में जो भी मुश्किलातें हैं, उसका कारण ही है कि एक दो को रूह नहीं देखते। देह-अभिमान के कारण सब समस्यायें हैं। देही-अभिमानी बन जायें तो सब समस्यायें समाप्त हो जायें। तो आप रूहानी गुलाब विश्व पर रूहानी खुशबू फैलाने के निमित्त हो, ऐसे सदा नशा रहता है? कभी एक, कभी दूसरा नहीं। सदा एकरस स्थिति में शक्ति होती है। स्थिति बदलने से शक्ति कम हो जाती हौ। सदा बाप की याद में रह जहाँ भी सेवा का साधन है, चाँस लेकर आगे बढ़ते जाओ। परमात्म-बगीचे के रूहानी गुलाब समझ रूहानी खुशबू फैलाते रहो। कितनी मीठी रूहानी खुशबू है जिस खुशबू को सब चाहते हैं! यह रूहानी खुशबू अनेक आत्माओं के साथ-साथ अपना भी कल्याण कर लेती है। बापदादा देखते हैं कि कितनी रूहानी खुशबू कहाँ-कहाँ तक फैलाते रहते हैं? जरा भी कहाँ देह-अभिमान मिक्स हुआ तो रूहानी खुशबू ओरीज्नल नहीं होगी। सदा इस रूहानी खुशबू से औरों को भी खुशबूदार बनाते चलो। सदा अचल हो? कोई भी हलचल हिलाती तो नहीं? कुछ भी होता है, सुनते, देखते थोड़ा भी हलचल में तो नहीं आ जाते? जब नथिंग-न्यु है तो हलचल में क्यों आयें? कोई नई बात हो तो हलचल हो। यह “क्या”,“क्यों” अनेक कल्प हुई है, इसको कहते हैं ड्रामा के ऊपर निश्चयबुद्धि। सर्वशक्तिवान के साथी हैं, इसलिए बेपरवाह बादशाह हैं। सब फिकर बाप को दे दिये तो स्वयं सदा बेफिकर बादशाह। सदा रूहानी खुशबू फैलाते रहो तो सब विघ्न खत्म हो जायेंगे।

वरदान:- प्रत्यक्षता के समय को समीप लाने वाले सदा शुभ चिंतक और स्व चिंतक भव
सेवा में सफलता का आधार है शुभचिंतक वृत्ति क्योंकि आपकी यह वृत्ति आत्माओं की ग्रहण शक्ति वा जिज्ञासा को बढ़ाती है, इससे वाणी की सेवा सहज सफल हो जाती है। और स्व के प्रति स्व चिंतन करने वाली स्वचिंतक आत्मा सदा माया प्रूफ, किसी की भी कमजोरियों को ग्रहण करने से, व्यक्ति व वैभव की आकर्षण से प्रूफ हो जाती है। तो जब यह दोनों वरदान प्रैक्टिकल जीवन में लाओ तब प्रत्यक्षता का समय समीप आये।
स्लोगन:- अपने संकल्पों को भी अर्पण कर दो तो सर्व कमजोरियां स्वत:दूर हो जायेंगी।

TODAY MURLI 29 NOVEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 29 November 2019

29/11/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are studying this Raj Yoga in order to claim a kingdom. This is a new study for you.
Question: Why do some children fail whilst they are studying?
Answer: boxing match takes place with Maya whilst they are studying. The intellect is hurt very severely boxing Maya. Therefore, because of being hurt, the soul doesn’t remain true to the Father. The children who are true remain constantly safe.

Om shanti. All of you children have the faith that the Father, the Supreme Soul, is teaching you souls. The unlimited Father only comes once every 5000 years and teaches you unlimited children. If any new ones were to hear this, they wouldn’t be able to understand. They wouldn’t be able to understand who the spiritual Father is and who the spiritual children are. You children know that all of you are brothers and that that One is your Father, Teacher and Supreme Guru. You children must surely remember this automatically. Whilst sitting here, you understand that there is only one spiritual Father of all souls. No matter which religion they belong to, all souls remember Him; all human beings definitely remember Him. The Father has explained that there is a soul in each one. The Father now says: Renounce all the religions of bodies and consider yourselves to be souls. You souls are now playing your parts here. It has also been explained to you what part you play. You children understand this, numberwise, according to the efforts you make. You are Raj Yogis. All those who study are yogis. They definitely have to have yoga with the teacher who teaches them. They are also aware of their aim and objective; they know what it is they will become through their studies. There is only this one study here and it is called the study to become a king of kings. This is Raj Yoga. You have yoga with the Father in order to claim the kingdom. No human being can ever teach this Raj Yoga. A human being is not teaching you. The Supreme Soul is teaching you souls, and you then teach others. You must also consider yourselves to be souls. The Father is teaching us souls. Because this is not remembered, power isn’t accumulated. This is why these things don’t stay in the intellects of many. So, the Father always says: Remain constantly linked in yoga and stay on the pilgrimage of remembrance and then explain. I am teaching brothers. Each of you is a soul and He is everyone’s Father, Teacher and Guru. You have to see each one as a soul. It has been remembered that liberation-in-life is attained in a second, but a lot of effort is required for this. Because you do not become soul conscious, there isn’t power in your words. Therefore, you are unable to explain in the way that the Father explains. Some explain very well. It can be understood who are thorns and who are flowers. Children study in a school up to five or six grades and then they are transferred. When good children are transferred, all the teachers of other classes very quickly understand which children make very good effort and which ones have studied well and have received a high number. A teacher definitely understands this. Those are worldly studies whereas it is not so here. This is the parlokik study. Here, you cannot say that, because someone studied very well previously, he is studying well now; no. There, when a student is transferred after an examination, the teacher understands that he made good effort and has thereby taken a number ahead. Here, this is a new study. No one studied this previously because this is a new study. The One who teaches is new; everything is new. He teaches the new ones and, out of those, it is the ones who study well who are known as good effort-makers. This is new knowledge for the new world. There is no one else who teaches this. The more attention you pay to your study, the higher the number you claim. Some are very sweet and obedient. As soon as you see them, you feel that they are ones who are going to teach well. You can understand from their behaviour and their way of speaking that they have no defects. Baba asks everyone: How does this one teach? Are there any defects in this one? Many say that no one should give news about them to Baba without first asking them. Some teach very well, whereas others don’t have shrewd intellects; they are attacked by Maya a great deal. The Father knows which ones are deceived by Maya a great deal. Although they have been teaching for ten years, Maya is so powerful that they become body conscious and become trapped. The Father explains that all those who are strong are hurt by Maya. Maya also becomes powerful and fights the powerful ones. You understand that the one whom Baba has entered is number one and that there are many who are numberwise after him. Baba gives examples of one or two, but there are many who are numberwise. The child Gita in Delhi is very clever. She is a very sweet child. Baba always says that this Gita is the true Gita. People read that Gita, but they don’t understand how God taught Raj Yoga and made you into the kings of kings. When it was the golden age, there was truly only the one religion. It is a question of yesterday. The Father says: Yesterday, I made you so wealthy. You were multimillion-times fortunate. Now look what you have become! You can feel this. You don’t get any feeling from those who relate the other Gita. They don’t understand even the slightest. The Shrimad Bhagawad Gita is remembered as that which is the most elevated. They sit and study the Gita and relate it to others. The Father does not take up any books; there is a difference. They don’t have the pilgrimage of remembrance at all; they continue to fall. Look what everyone has become by having the concept of omnipresence! You understand that this will happen cycle after cycle. The Father says: I teach you and take you across the ocean of poison. There is a vast difference. The study of the scriptures is the path of devotion. The Father says: No one meets Me by studying those scriptures. They think that you will all reach the same place no matter which path you take. Sometimes, they say that God will come in some form or other and teach us. In that case, since the Father has to come to teach, what is it that they are teaching? The Father says that there are just as many right words in the Gita as a pinch of salt in a sackful of flour. You can take up those points with them. There are no scriptures etc. in the golden age. These scriptures belong to the path of devotion. You can’t say that they have been in existence for eternity, that they have existed from the beginning; no. They don’t understand the meaning of “eternity”. The Father explains that this eternal drama is truly eternal. The Father is teaching you Raj Yoga. He says: I teach you now and then I disappear. You say that your kingdom is eternal. It is the same kingdom; it is just that its name changed because it became impure from pure. Instead of being called deities, you are called Hindus, but you still belong to the original eternal deity religion. Just as others go through the stages of satopradhan, sato, rajo and tamo, in the same way, you also come down. When you become rajo because of impurity, instead of being called deities, you are called Hindus but, in fact, the name “Hindu” belongs to the land of Hindustan. Originally, you were deities. Deities are always pure. Human beings have now become impure, and so they have been given the name “Hindu”. Ask them: When was the Hindu religion created and who created it? They will not be able to give you an answer. The original eternal deity religion did exist. It was given many beautiful names such as Paradise etc. That which has passed will repeat. At this time, you know about everything from the beginning to the end. As you continue to know more, you will stay alive; some even die. Your battle with Maya begins when you belong to the Father, but some also become traitors. You belonged to Ravan and you then belonged to Rama. Then Ravan defeats the children of Rama (God) and pulls them to himself. Some of you become ill and then, neither do you belong there nor do you remain here. Neither do you have enjoyment nor do you experience sorrow; you remain in between. Amongst you, too, there are many who are in between: they do not belong to the Father completely nor do they belong to Ravan completely. You are now at the most auspicious confluence age. You are making effort to become the highest of humans. These matters have to be understood very well. When Baba asks you something, many of you children raise your hands, but it is understood that you don’t have such intellects. Baba says: By all means, say auspicious things. You all say that you will change from an ordinary human into Narayan. The story is of changing from an ordinary human into Narayan. On the path of ignorance, you used to listen to the story of becoming a true Narayan, but nobody there could ask this question. Here, the Father asks you: What do you think? Do you have sufficient courage? You definitely also have to become pure. When someone comes, he is asked: Have you committed any sin in this birth? All have been sinners for birth after birth. If you speak about the sins of this birth, you become light. Otherwise, your conscience would bite you inside. By telling the truth, you become light. Some children don’t tell the truth, and so Maya punches them very hard. Your boxing match is very hard. In that boxing, your body gets hurt, whereas here, it is your intellect that is badly hurt. Baba also knows this. This Brahma says: I have reached the final birth of my many births. I was most pure and have now become most impure. I am becoming pure once again. I do not say that I am a great soul. The Father confirms this and also says: This one is the most impure one. The Father says: I come into a foreign land and enter a foreign body. I enter the one who has taken the full 84 births at the end of his many births. He is now making effort to become pure once again. You have to remain very cautious. The Father knows this. This child of Baba is very close. He can never be separated from the Father. I cannot even have the thought that I should leave Him and go. He is sitting absolutely next to Me. Baba is mine, He is sitting in my home. Baba knows this and he laughs and jokes with Baba. This one says: Today, Baba, You can bathe me, You can feed me, I am Your small child. I remember Baba in many different ways, and then I explain to you children: Remember Baba in this way. Baba, You are very sweet. You make us into the masters of the world. These aspects cannot be in the intellect of anyone else. The Father continues to refresh you all. You all continue to make effort, but your behaviour should also be accordingly. If you make a mistake, you should instantly write and tell Baba: Baba, I have made this mistake. Some write and say: Baba, I have made a mistake; forgive me! If, after becoming My child, you make a mistake, that mistake would multiply one hundred times. If you are defeated by Maya, you become as you were before. Many are defeated. This is a very powerful boxing match. It is a battle between Rama and Ravan. They show that God took an army of monkeys. That is a play that has been created for children. Little children don’t have a lot of understanding. The Father says: Those people’s intellects too are only worth a few pennies. They say that each one is a form of God. Does it mean that each one becomes God and creates, sustains and destroys? God does not destroy anything. To say that is such ignorance! This is why it has been said that people keep worshipping dolls. It is a wonder what the intellects of human beings have become! They spend so much money! The Father complains to you and says: I made you so great, but what did you do? You also understand that you were deities and that, having gone around the cycle, you have now become Brahmins. You will then become deities again. This must be in your intellects. When you are sitting here, this knowledge should remain in your intellects. Baba is knowledgefull. Although He resides in the land of peace, He is called knowledgefull. All the knowledge also remains in you souls. People say that their eyes were opened by this knowledge. The Father gives you the eye of knowledge. The soul now knows about the beginning, the middle and the end of the world. The cycle continues to turn. It is Brahmins who receive the discus of self-realisation. There is no one who teaches the deities; they don’t need any teachings. You, who are to become deities, have to study. The Father now sits here and explains these new things. You become elevated by studying this new knowledge. Those who are first become last and those who are last become first. This is a study. You now understand that Baba comes every cycle and changes you from impure to pure. Then, this knowledge ends. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Be very very obedient and move along with sweetness. Don’t allow there to be any arrogance of the body. After becoming a child of the Father, do not make any mistakes. You have to be very careful when boxing Maya.
  2. In order to fill your words with power, practise of being soul conscious. Let it remain in your consciousness that you are relating that which the Father has taught you. There will then be power in your words.
Blessing: May you renounce carelessness and laziness, traces of impurity, and become completely viceless.
When there are ups and downs in your daily timetable, when there is laziness or carelessness, it is a trace of vice and it also has an impact on you becoming worthy of worship. If you do not experience yourself to be fully awake at amrit vela, if you sit out of compulsion or with laziness, your worshippers will then also worship you with a feeling of compulsion or with laziness. So, renounce laziness and carelessness and you will then be able to become completely viceless.
Slogan: You may do service, but do not have any wasteful expenditure.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 29 NOVEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 November 2019

29-11-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम यह राजयोग की पढ़ाई पढ़ते हो राजाई के लिए, यह है तुम्हारी नई पढ़ाई”
प्रश्नः- इस पढ़ाई में कई बच्चे चलते-चलते फेल क्यों हो जाते हैं?
उत्तर:- क्योंकि इस पढ़ाई में माया के साथ बॉक्सिंग है। माया की बॉक्सिंग में बुद्धि को बहुत कड़ी चोट लग जाती है। चोट लगने का कारण बाप से सच्चे नहीं हैं। सच्चे बच्चे सदा सेफ रहते हैं।

ओम् शान्ति। यह तो सब बच्चों को निश्चय होगा कि हम आत्माओं को परमात्मा बाप पढ़ाते हैं। 5 हजार वर्ष बाद एक ही बार बेहद का बाप आकर बेहद के बच्चों को पढ़ाते हैं। कोई नया आदमी यह बातें सुनें तो समझ न सके। रूहानी बाप, रूहानी बच्चे क्या होते हैं, यह भी समझ नहीं सकेंगे। तुम बच्चे जानते हो हम सभी ब्रदर्स हैं। वह हमारा बाप भी है, टीचर भी है, सुप्रीम गुरू भी है। तुम बच्चों को यह जरूर ऑटोमेटिकली याद रहेगा, यहाँ बैठे समझते होंगे-सभी आत्माओं का एक ही रूहानी बाप है। सभी आत्मायें उसको ही याद करती हैं। कोई भी धर्म का हो। सभी मनुष्य मात्र याद जरूर करते हैं। बाप ने समझाया है आत्मा तो सबमें है ना। अब बाप कहते हैं – देह के सब धर्म छोड़ अपने को आत्मा समझो। अभी तुम आत्मा यहाँ पार्ट बजा रही हो। कैसा पार्ट बजाती हो, वह भी समझाया गया है। बच्चे भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार ही समझते हैं। तुम राजयोगी हो ना। पढ़ने वाले सब योगी ही होते हैं। पढ़ाने वाले टीचर के साथ योग जरूर रखना पड़ता है। एम आब्जेक्ट का भी मालूम रहता है-इस पढ़ाई से हम फलाना बनेंगे। यह पढ़ाई तो एक ही है, इनको कहा जाता है राजाओं का राजा बनने की पढ़ाई। राजयोग है ना। राजाई प्राप्त करने के लिए बाप से योग। और कोई मनुष्य यह राजयोग कभी सिखला न सके। तुमको कोई मनुष्य नहीं सिखलाते हैं। परमात्मा तुम आत्माओं को सिखलाते हैं। तुम फिर औरों को सिखलाते हो। तुम भी अपने को आत्मा समझो। हम आत्माओं को बाप सिखलाते हैं। यह याद न रहने से जौहर नहीं भरता है, इसलिए बहुतों की बुद्धि में नहीं बैठता है। तो बाप हमेशा कहते हैं, योगयुक्त हो, याद की यात्रा में रहकर समझाओ। हम भाई-भाई को सिखलाते हैं। तुम भी आत्मा हो, वह सबका बाप, टीचर, गुरू है। आत्मा को देखना है। भल गायन है सेकण्ड में जीवनमुक्ति परन्तु इसमें मेहनत बहुत है। आत्म-अभिमानी न बनने से तुम्हारे वचनों में ताकत नहीं रहती है क्योंकि जिस प्रकार बाप समझाते हैं उस रीति कोई समझाते नहीं हैं। कोई-कोई तो बहुत अच्छा समझाते हैं। कौन कांटा है और कौन फूल है-मालूम तो सब पड़ता है, स्कूल में बच्चे 5-6 दर्जा पढ़कर फिर ट्रान्सफर होते हैं। अच्छे-अच्छे बच्चे जब ट्रान्सफर होते हैं तो दूसरे क्लास के टीचर को भी झट मालूम पड़ता है। यह बच्चे तीखे पुरुषार्थी हैं, इन्होंने अच्छा पढ़ा हुआ है तब ऊंच नम्बर में आये हैं। टीचर तो जरूर समझते होंगे ना। वह है लौकिक पढ़ाई, यहाँ तो वह बात नहीं। यह है पारलौकिक पढ़ाई। यहाँ तो ऐसे नहीं कहेंगे। यह पहले बहुत अच्छा पढ़कर आये हैं तब अच्छा पढ़ते हैं। नहीं। उस इम्तहान में तो ट्रान्सफर होते हैं तो टीचर समझेंगे इसने पढ़ाई में मेहनत की है, तब आगे नम्बर लिया है। यहाँ तो है ही नई पढ़ाई, जो पहले से कोई पढ़े हुए नहीं हैं। नई पढ़ाई है, नया पढ़ाने वाला है। सब नये हैं। नयों को पढ़ाते हैं। उनमें जो अच्छी रीति पढ़ते हैं तो कहेंगे यह अच्छे पुरूषार्थी हैं। यह है नई दुनिया के लिए नई नॉलेज और कोई पढ़ाने वाला तो है नहीं। जितना-जितना जो अटेन्शन देते हैं उतना ऊंच नम्बर में जाते हैं। कोई तो बहुत मीठे आज्ञाकारी होते हैं। देखने से ही पता पड़ता है, यह पढ़ाने वाला बहुत अच्छा है, इनमें कोई अवगुण नहीं है। चलन से, बात करने से मालूम पड़ जाता है। बाबा पूछते भी सबसे हैं-यह कैसा पढ़ाते हैं, इनमें कोई खामी तो नहीं है। ऐसे बहुत कहते हैं कि हमारे पूछे बिगर समाचार कभी नहीं देना। कोई अच्छा पढ़ाते हैं, कोई शुरूड़ बुद्धि नहीं होते हैं। माया का वार बहुत होता है। यह बाप जानते हैं, माया इन्हों को धोखा बहुत देती है। भल 10 वर्ष भी पढ़ाया है परन्तु माया ऐसी जबरदस्त है-देह-अहंकार आया और यह फँसा। बाप समझाते हैं जो भी पहलवान हैं, उन पर माया की चोट लगती है। माया भी बलवान से बलवान होकर लड़ती है।

तुम समझते होंगे बाबा ने जिसमें प्रवेश किया है यह नम्बरवन है। फिर नम्बरवार तो बहुत हैं ना। बाबा मिसाल करके एक-दो का देते हैं। होते तो नम्बरवार बहुत हैं। जैसे देहली में गीता बच्ची बहुत होशियार है। है बच्ची बड़ी मीठी। बाबा हमेशा कहते हैं गीता तो सच्ची गीता है। मनुष्य वह गीता पढ़ते हैं परन्तु यह नहीं समझते हैं कि भगवान ने कैसे राजयोग सिखाकर राजाओं का राजा बनाया था। बरोबर सतयुग था तो एक ही धर्म था, कल की बात है। बाप कहते हैं कल तुमको इतना साहूकार बनाकर गया। तुम पदमापदम भाग्यशाली थे, अब तुम क्या बन गये हो। तुम फील करते हो ना। उन गीता सुनाने वालों से कोई को फीलिंग आती है क्या, ज़रा भी नहीं समझते। ऊंच ते ऊंच श्रीमत भगवत गीता ही गाई जाती है। वह तो गीता किताब बैठ पढ़ते वा सुनाते हैं। बाप तो किताब नहीं पढ़ते। फ़र्क तो है ना। उनकी याद की यात्रा तो है ही नहीं। वह तो नीचे गिरते ही रहते हैं। सर्वव्यापी के ज्ञान से सब देखो कैसे बन गये हैं। तुम जानते हो कल्प-कल्प ऐसे ही होगा। बाप कहते हैं तुमको सिखलाकर विषय सागर से पार कर देते हैं। कितना फ़र्क है। शास्त्र पढ़ना तो भक्ति मार्ग हुआ ना। बाप कहते हैं यह पढ़ने से मेरे से कोई नहीं मिलते। वह समझते हैं कोई भी तरफ जाओ पहुँचना तो सबको एक ही जगह है। कभी कहते हैं भगवान किस न किस रूप में आकर पढ़ायेंगे। जब बाप को आकर पढ़ाना है तो फिर तुम क्या पढ़ाते हो? बाप समझाते हैं गीता में आटे में नमक मिसल कोई राइट अक्षर हैं, जिसमें तुम पकड़ सकते हो। सतयुग में तो कोई भी शास्त्र आदि होते ही नहीं। यह है ही भक्ति मार्ग के शास्त्र। ऐसे नहीं कहेंगे कि यह अनादि हैं। शुरू से चले आते हैं। नहीं। अनादि का अर्थ नहीं समझते। बाप समझाते हैं यह तो ड्रामा अनादि बरोबर है। तुमको बाप राजयोग सिखलाते हैं। बाप कहते हैं अभी तुमको सिखलाता हूँ फिर गुम हो जाता हूँ। तुम कहेंगे हमारा राज्य अनादि था। राज्य वही है सिर्फ पावन से बदल पतित होने से नाम बदल जाता है। देवता के बदले हिन्दू कहलाते हैं। है तो आदि सनातन देवी-देवता धर्म के ना। जैसे दूसरे सतोप्रधान से सतो, रजो, तमो में आते हैं, तुम भी ऐसे उतरते हो। रजो में आते हो तो अपवित्रता के कारण देवता के बदले हिन्दू कहलाते हो। नहीं तो हिन्दू हिन्दुस्तान का नाम है। तुम असुल में तो देवी-देवता थे ना। देवतायें सदैव पावन होते हैं। अभी तो मनुष्य पतित बन गये हैं। तो नाम भी हिन्दू रख दिया है। पूछो हिन्दू धर्म कब, किसने रचा? तो बता नहीं सकेंगे। आदि सनातन देवी-देवता धर्म था, जिसको पैराडाइज आदि बहुत अच्छे-अच्छे नाम देते हैं। जो पास्ट हुआ है वह फिर रिपीट होना है। इस समय तुम शुरू से लेकर अन्त तक सब जानते हो। जानते जायेंगे तो जीते रहेंगे। कई तो मर भी जाते हैं। बाप का बनते हैं तो माया की युद्ध चलती है। युद्ध होने से ट्रेटर बन पड़ते हैं। रावण के थे, राम के बने। फिर रावण, राम के बच्चों पर जीत पहन अपनी तरफ ले जाता है। कोई बीमार हो पड़ते हैं। फिर न वहाँ के रहते, न यहाँ के रहते। न खुशी है, न रंज। बीच में पड़े रहते हैं। तुम्हारे पास भी बहुत हैं जो बीच में हैं। बाप का भी पूरा नहीं बनते हैं, रावण का भी पूरा नहीं बनते।

अभी तुम हो पुरूषोत्तम संगमयुग पर। उत्तम पुरूष बनने के लिए पुरूषार्थ कर रहे हो। यह बड़ी समझने की बाते हैं। बाबा पूछते हैं हाथ तो बहुत बच्चे उठाते हैं। परन्तु समझा जाता है-बुद्धि नहीं है। भल बाबा कहते हैं शुभ बोलो। कहते तो सब हैं-हम नर से नारायण बनेंगे। कथा ही नर से नारायण बनने की है। अज्ञान काल में भी सत्य नारायण की कथा सुनते हैं ना। वहाँ तो कोई पूछ नहीं सकते। यह तो बाप ही पूछते हैं। तुम क्या समझते हो-इतनी हिम्मत है? तुम्हें पावन भी जरूर बनना है। कोई आते हैं तो पूछा जाता है इस जन्म में कोई पाप कर्म तो नहीं किये हैं? जन्म-जन्मान्तर के पापी तो हो ही। इस जन्म के पाप बता दो तो हल्के हो जायेंगे। नहीं तो दिल अन्दर खाता रहेगा। सच बतलाने से हल्के होंगे। कई बच्चे सच नहीं बताते हैं तो माया एकदम जोर से घूँसा लगा देती है। तुम्हारी बड़ी कड़ी बॉक्सिंग हैं। उस बॉक्सिंग में तो शरीर को चोट लगती है, इसमें बुद्धि को बहुत चोट लगती है। यह बाबा भी जानते हैं। यह ब्रह्मा कहते हैं मैं बहुत जन्मों के अन्त का हूँ। सबसे पावन था, अभी सबसे पतित हूँ। फिर पावन बनता हूँ। ऐसे तो नहीं कहता हूँ कि मैं महात्मा हूँ। बाप भी खातिरी देते हैं, यह सबसे जास्ती पतित है। बाप कहते हैं मैं पराये देश, पराये शरीर में आता हूँ। इनके बहुत जन्मों के अन्त में मैं इनमें प्रवेश करता हूँ, जिसने पूरे 84 जन्म लिये हैं। अब यह भी पावन बनने का पुरूषार्थ करते हैं, खबरदार भी बहुत रहना होता है। बाप तो जानते हैं ना। यह बाबा का बच्चा बहुत नजदीक है। यह तो बाप से जुदा कभी हो नहीं सकता। ख्याल भी नहीं आ सकता कि छोड़कर जाऊं। एकदम हमारे बाजू में बैठा है। मेरा तो बाबा है ना। मेरे घर में बैठा है। बाबा जानते हैं हँसीकुड़ी भी करते हैं। बाबा आज हमको स्नान तो कराओ, भोजन तो खिलाओ। मैं छोटा बच्चा हूँ, बहुत प्रकार से बाबा को याद करता हूँ। तुम बच्चों को समझाता हूँ- ऐसे-ऐसे याद करो। बाबा आप तो बहुत मीठे हो। एकदम हमको विश्व का मालिक बना देते हो। यह बात और किसकी बुद्धि में हो न सके। बाप सबको रिफ्रेश करते रहते हैं। सब पुरूषार्थ तो करते हैं, परन्तु चलन भी ऐसी हो ना। भूल हो जाए तो झट लिखना चाहिए -बाबा, हमसे यह भूल हो जाती है। कोई-कोई लिखते भी हैं-बाबा हमसे यह भूल हुई माफ करना। हमारा बच्चा बनकर फिर भूल करने से सौ गुना वृद्धि हो जाती है। माया से हारते हैं तो फिर वही के वही बन जाते हैं। बहुत हारते हैं। यह बड़ी बॉक्सिंग है। राम और रावण की लड़ाई है। दिखाते भी हैं बन्दर सेना ली। यह सब बच्चों का खेल बना हुआ है। जैसे छोटे बच्चे बेसमझ होते हैं ना। बाप भी कहते हैं यह तो इन्हों की पाई-पैसे की बुद्धि है। कहते हैं हर एक ईश्वर का रूप है। तो हर एक ईश्वर बन क्रियेट भी करते हैं, पालना करते हैं फिर विनाश भी कर देते। अब ईश्वर कोई का विनाश थोड़ेही करते हैं। यह तो कितनी अज्ञानता है इसलिए कहा जाता है गुड़ियों की पूजा करते रहते हैं। वन्डर है। मनुष्यों की बुद्धि क्या हो जाती है। कितना खर्चा करते हैं। बाप उल्हना देते हैं – हम तुमको इतना बड़ा बनाकर गया, तुमने क्या किया! तुम भी जानते हो हम सो देवता थे फिर चक्र लगाते हैं, अभी हम ब्राह्मण बने हैं। फिर हम सो देवता….. बनेंगे। यह तो बुद्धि में बैठा हुआ है ना। यहाँ बैठते हो तो बुद्धि में यह नॉलेज रहनी चाहिए। बाप भी नॉलेजफुल है ना। रहते भल शान्तिधाम में हैं फिर भी उनको नॉलेजफुल कहा जाता है। तुम्हारी भी आत्मा में सारी नॉलेज रहती है ना। कहते हैं इस ज्ञान से तो हमारी आंख खुल गई है। बाप तुमको ज्ञान के चक्षु देते हैं। आत्मा को सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त का पता पड़ गया है। चक्र फिरता रहता है। ब्राह्मणों को ही स्वदर्शन चक्र मिलता है। देवताओं को पढ़ाने वाला कोई होता नहीं। उनको शिक्षा की दरकार नहीं। पढ़ना तो तुमको है जो फिर तुम देवता बनते हो। अब बाप बैठ यह नई-नई बातें समझाते हैं। यह नई पढ़ाई पढ़कर तुम ऊंच बनते हो। फर्स्ट सो लास्ट। लास्ट सो फर्स्ट। यह पढ़ाई है ना। अभी तुम समझते हो बाबा हर कल्प आकर पतित से पावन बनाते हैं, फिर यह नॉलेज खलास हो जायेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बहुत-बहुत आज्ञाकारी, मीठा होकर चलना है। देह-अहंकार में नहीं आना है। बाप का बच्चा बनकर फिर कोई भी भूल नहीं करनी है। माया की बॉक्सिंग में बहुत-बहुत खबरदार रहना है।

2) अपने वचनों (वाक्यों) में ताकत भरने के लिए आत्म-अभिमानी रहने का अभ्यास करना है। स्मृति रहे-बाप का सिखलाया हुआ हम सुना रहे हैं तो उसमें जौहर भरेगा।

वरदान:- अपवित्रता का अंश – आलस्य और अलबेलेपन का त्याग करने वाले सम्पूर्ण निर्विकारी भव
दिनचर्या के कोई भी कर्म में नीचे ऊपर होना, आलस्य में आना या अलबेला होना – यह विकार का अंश है, जिसका प्रभाव पूज्यनीय बनने पर पड़ता है। यदि आप अमृतवेले स्वयं को जागृत स्थिति में अनुभव नहीं करते, मजबूरी से वा सुस्ती से बैठते हो तो पुजारी भी मजबूरी वा सुस्ती से पूजा करेंगे। तो आलस्य वा अलबेलेपन का भी त्याग कर दो तब सम्पूर्ण निर्विकारी बन सकेंगे।
स्लोगन:- सेवा भले करो लेकिन व्यर्थ खर्च नहीं करो।

TODAY MURLI 29 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 November 2018 :- Click Here

29/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, knowledge is butter and devotion is buttermilk. The Father gives you butter in the form of knowledge and makes you into the masters of the world. This is why they show butter in the mouth of Shri Krishna.
Question: How can you recognize someone whose intellect has faith? What attainment is there on the basis of faith?
Answer: 1. The children whose intellects have faith are the true moths who surrender themselves to the Flame, not those who simply circle around. Only those who surrender themselves to the Flame come into the kingdom. Those who simply circle around become part of the subjects. 2. The promise of the children whose intellects have faith is: “Even in the most adverse situations, I will not let go of my religion.” Their intellects have true love and so they forget all their bodily religions and their bodies and stay in remembrance of the Father.
Song: Leave Your throne of the sky and come down to earth.

Om shanti. God speaks. The incorporeal Supreme Father is called God. Who said: God speaks? That incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. The incorporeal Father sits here and explains to you incorporeal souls. You incorporeal souls listen through the physical organs of your bodies. A soul is not called male or female; a soul is called a soul. The soul himself says through these organs: I leave one body and take another. All human beings are brothers. As children of the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, you are brothers and when you become the children of Prajapita Brahma, you are brothers and sisters. Always continue to explain this to everyone. God is the Protector, the One who gives devotees the fruit of their devotion. The Father explains: I alone am the Bestower of Salvation for All. I become the Teacher of all of you and give you shrimat and then I am also the Satguru of everyone. He doesn’t have a Father, Teacher or Guru. That Father, not Krishna, is the One who teaches the ancient Raja Yoga of Bharat. Krishna cannot be called the Father. He is said to be the prince of heaven who has divine virtues. Only the One is called the Purifier and the Bestower of Salvation. All souls are now unhappy, impure and corrupt. Bharat itself is divine and elevated in the golden age. When it then becomes the corrupt, devilish kingdom, everyone says: O Purifier, come! Come and establish the kingdom of Rama. Therefore, it is now the kingdom of Ravan. People burn Ravan, but none of the scholars, teachers or pundits know what Ravan is. The golden age and the silver age are the kingdom of Rama whereas the copper age and the iron age are the kingdom of Ravan. The day of Brahma is the day of the Brahma Kumars and Kumaris. The night of Brahma is the night of the Brahma Kumars and Kumaris. The night is now to end and the day is to come. It is remembered: There are those who have non loving intellects at the time of destruction. There are also the three armies. The Supreme Father is called m ost b eloved God, the Father, the Ocean of Knowledge. So He must surely be giving you knowledge. He is the Living Seed of the world. He is the Supreme Soul, that is, He is God, the Highest on High. It isn’t that He is omnipresent. To say that He is omnipresent is to defame the Father. The Father says: By My being defamed, there has been defamation of religion and Bharat has become poverty-stricken and corrupt. I have to come at such a time. Bharat itself is My birthplace. The Somnath Temple and the temples to Shiva are here. I make My birthplace into heaven and then Ravan makes it into hell. This means that by following the dictates of Ravan, people have become residents of hell, the devilish community. Then, I change them and make them elevated and into the divine community. This is the ocean of poison and that is the ocean of milk; rivers of ghee flow there. In the golden and silver ages, Bharat was constantly happy and solvent and there were palaces of diamonds and jewels. Bharat is now 100% insolvent. I alone come and make it 100% solvent and elevated. People have now become so corrupt that they have forgotten their divine religion. The Father sits here and explains: The path of devotion is buttermilk and the path of knowledge is butter. They show butter in the mouth of Krishna. That means he had the kingdom of the world. Lakshmi and Narayan were the masters of the world. The Father Himself comes and gives you the unlimited inheritance, that is, He makes you into the masters of the world. He says: I do not become the Master of the world. If I were to become the Master, I would then also have to be defeated by Maya. You are the ones who are defeated by Maya. So, you then have to gain victory. You are trapped in the five vices. I am now making you worthy of living in a temple. The golden age is a big temple and it is called Shivalaya which is established by Shiva. The iron age is called the brothel; all are vicious. The Father now says: Renounce the religions of the body, consider yourself to be a soul and remember Me, your Father. You children now have love for the Father. You don’t remember anyone else. You are those who have loving intellects at the time of destruction. You know that only the Supreme Father, the Supreme Soul, is called Shri Shri 108. They turn the beads of the rosary of 108. Up above is Shiv Baba, then the mother and father, Brahma and Saraswati, and then their children who make Bharat pure. The rosary of Rudraksh has also been remembered. This is called the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. This is also such a big imperishable sacrificial fire of knowledge in which the horse is sacrificed to receive self-sovereignty. It has been continuing for so many years. All the innumerable religions are to be sacrificed into this sacrificial fire because only then will this sacrificial fire end. This is the imperishable sacrificial fire of imperishable Baba. Everything material is to be sacrificed into this. Children ask: When will destruction take place? Oh, but those who establish something then have to sustain it. This is Shiv Baba’s chariot. Shiv Baba is the Charioteer in this, but there aren’t any horse chariots etc., here. They have just sat and made up paraphernalia for the path of devotion. Baba says: I take the support of this matter. The Father explains: At first, there is unadulterated devotion but it then becomes completely adulterated by the end of the iron age. Then the Father comes and gives the butter to Bharat. You are studying to become the masters of the world. The Father comes and feeds you butter. Buttermilk begins in Ravan’s kingdom. All of these matters have to be understood. New children cannot understand these things. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Ocean of Knowledge. The Father says: No one on this path of devotion can find Me. Only when I come do I give the devotees the fruit of their devotion. I become the Liberator , I remove their sorrow and take them to the land of peace and the land of happiness. Faith in the intellect leads to victory and doubt in the intellect leads to destruction. The Father is the Flame. Some moths completely surrender themselves whereas others simply circle around and go away; they don’t understand anything. Children who surrender themselves know that they truly receive the unlimited inheritance from the unlimited Father. Those who simply circle around and go away will then become part of the subjects, numberwise. Those who surrender themselves claim their inheritance, numberwise, according to the efforts they make. The reward received is according to the efforts made. Only the one Father is the Ocean of Knowledge. This knowledge then disappears. You would have received salvation then. There are no gurus etc. in the golden and silver ages. Everyone now remembers that Father because He is the Ocean of Knowledge. He grants salvation to everyone; the cries of distress end and there is the joy of victory. You know the beginning, middle and end of the world. You have now become trikaldarshi and trinetri. You are now receiving all the knowledge of the Creator and the beginning, the middle and the end of creation. This is not a tall story. The Gita is spoken by God, but they have falsified it by inserting Krishna’s name. You children now have to benefit everyone. You are the Shiv Shakti Army. It is remembered: Salutations to the mothers! Salutations are given to those who are pure. When a kumari is pure, everyone bows down to her. As soon as she goes to her in-laws and becomes impure, she continues to bow down to everyone. Everything depends on purity. Bharat had the pure household religion; it is now the impure household religion. There is nothing but sorrow. It is not like that in the golden age. The Father brings heaven on the palms of His hands for you children. While living at home, you can claim your inheritance of liberation-in-life from the Father. There is no question of leaving your home and family. The path of isolation of the sannyasis is separate. You now promise the Father: Baba, I will definitely become pure and become a master of the pure world and “Whatever happens I will never leave my religion.” Donate the five vices so that you are freed from the eclipse of Maya and you will then become sixteen celestial degrees full. In the golden age, they are sixteen celestial degrees full, fully viceless. You now have to follow shrimat and once again become like that. God is the Lord of the Poor. Wealthy ones are unable to take this knowledge because they think that they are now sitting in heaven because they have a lot of wealth etc. This is why only the innocent, the weak and those with stone intellects take this knowledge. Bharat is poor. Among them too, the Father only makes those who are ordinary and poor belong to Him. Only they have it in their fortune. The example of Sudama is remembered. The wealthy don’t have time to understand these things. Some daughters used to go to Rajendra Prasad (former President of India). They told him: Know the unlimited Father and you will become worth a diamond. Do this seven days’ course. He used to say: Yes, what you say is very good. I will take the course after I have retired. When he retired, he said: I am now ill. Eminent people don’t have time. Only when they first complete the seven days’ course can they have the intoxication of becoming Narayan. They cannot be coloured just like that. It is only after seven days that you can tell whether someone is worthy or not. If he is worthy, he will become busy making effort to study. Unless someone is very firmly coloured in the furnace (bhatthi), the colour fades as soon as he goes outside and this is why you first have to colour them very firmly. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a Shiv Shakti and benefit the world. On the basis of purity, change human beings who are worth shells and make them worth diamonds.
  2. According to shrimat, donate the vices and become fully viceless, 16 celestial degrees full. Become the moths who surrender themselves to the Flame.
Blessing: May you remain yogyukt and beyond any awareness of the body by always considering yourself to be a co-charioteer and a detached observer.
The easy way to remain yogyukt is always to move around while considering yourself to be a co-charioteer and a detached observer. “I, the soul, am a co-charioteer who makes this chariot move.” This awareness automatically makes you detached from the chariot, that is, the body and any type of awareness of the body. When there isn’t any awareness of the body, you easily become yogyukt and every action is yuktiyukt. By considering yourself to be a co-charioteer, all your physical senses remain under your control. Such a soul cannot be influenced by any of the physical senses.
Slogan: In order to become a victorious soul, make attention and practise your natural sanskars.

*** Om Shanti ***

Sweet elevated versions from Mateshwari

There is no benefit in just chanting the mantra of “om”.

To chant “om” means to sing this constantly. When we say the word “om”, it does not mean that we have to say it out loud. There is no benefit in life by simply saying “om”. However, by being stable in the meaning of “om” and by knowing the meaning of that word “om”, human beings can have peace in their lives. People definitely want to have peace, and they have many conferences to establish that peace. However, the result seen is that there is greater peacelessness and causes of sorrow. The main reason is that there cannot possibly be peace on earth until human beings have destroyed the five vices. So first, every human being has to control their five vices and connect the string of their souls with the Supreme Soul; only then can there be peace. So, let each person ask the self: Have I destroyed the five vices in me? Have I made the effort to conquer them? If they ask, “How can I control the five vices in me?” show them this method. First of all, give the dhoop (smoke from incense sticks) of knowledge and yoga. Then along with that tell them the elevated versions of the Supreme Soul: Connect the yoga of your intellect with Me, take power from Me and by remembering Me, Almighty Authority God, the vices will continue to be removed. We now have to make this much spiritual endeavour so that God Himself comes and teaches us. Achcha.

BRAHMA KUMARIS MURLI 29 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 November 2018

To Read Murli 28 November 2018 :- Click Here
29-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ज्ञान है मक्खन, भक्ति है छांछ, बाप तुम्हें ज्ञान रूपी मक्खन देकर विश्व का मालिक बना देते हैं, इसलिए कृष्ण के मुख में मक्खन दिखाते हैं”
प्रश्नः- निश्चयबुद्धि की परख क्या है? निश्चय के आधार पर क्या प्राप्ति होती है?
उत्तर:- 1. निश्चयबुद्धि बच्चे शमा पर फिदा होने वाले सच्चे परवाने होंगे, फेरी लगाने वाले नहीं। जो शमा पर फिदा हो जाते हैं वही राजाई में आते हैं, फेरी लगाने वाले प्रजा में चले जाते। 2. धरत परिये धर्म न छोड़िये – यह प्रतिज्ञा निश्चयबुद्धि बच्चों की है। वे सच्चे प्रीत बुद्धि बन देह सहित देह के सब धर्मों को भूल बाप की याद में रहते हैं।
गीत:- छोड़ भी दे आकाश सिंहासन…. 

ओम् शान्ति। भगवानुवाच। भगवान् कहा जाता है निराकार परमपिता को। भगवानुवाच किसने कहा? उस निराकार परमपिता परमात्मा ने। निराकार बाप निराकार आत्माओं को बैठ समझाते हैं। निराकार आत्मा इस शरीर रूपी कर्मेन्द्रियों से सुनती है। आत्मा को न मेल, न फीमेल कहा जाता है। उनको आत्मा ही कहा जाता है। आत्मा स्वयं इन आरगन्स द्वारा कहती है – मैं एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हूँ। जो भी मनुष्य मात्र हैं वह सब ब्रदर्स हैं। जब निराकार परमपिता परमात्मा की सन्तान हैं तो आपस में सब भाई-भाई हैं, जब प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान हैं तो भाई-बहन हैं। यह हमेशा सबको समझाते रहो। भगवान् रक्षक है, भक्तों को भक्ति का फल देने वाला है।

बाप समझाते हैं सर्व का सद्गति दाता एक मैं हूँ। सर्व का शिक्षक बन श्रीमत देता हूँ और फिर सर्व का सतगुरू भी हूँ। उनको कोई बाप, टीचर, गुरू नहीं। वही बाप प्राचीन भारत का राजयोग सिखलाने वाला है, कृष्ण नहीं। कृष्ण को बाप नहीं कह सकते। उनको दैवीगुणधारी स्वर्ग का प्रिन्स कहा जाता है। पतित-पावन सद्गति दाता एक को कहा जाता है। अभी सब दु:खी, पाप आत्मा, भ्रष्टाचारी हैं। भारत ही सतयुग में दैवी श्रेष्ठाचारी था। फिर वह भ्रष्टाचारी आसुरी राज्य होता है। सब कहते हैं पतित-पावन आओ, आकर रामराज्य स्थापन करो। तो अब रावण राज्य है। रावण को जलाते भी हैं लेकिन रावण को कोई भी विद्वान, आचार्य, पण्डित नहीं जानते। सतयुग से त्रेता तक रामराज्य, द्वापर से कलियुग तक रावणराज्य। ब्रह्मा का दिन सो ब्रह्माकुमार-कुमारियों का दिन। ब्रह्मा की रात सो बी.के. की रात। अभी रात पूरी हो दिन आना है। गाया हुआ है विनाश काले विपरीत बुद्धि। तीन सेनायें भी हैं। परमपिता को कहा जाता है बीलव्ड मोस्ट गॉड फादर, ओशन ऑफ नॉलेज। तो जरूर नॉलेज देते होंगे ना। सृष्टि का चैतन्य बीजरूप है। सुप्रीम सोल है अर्थात् ऊंच से ऊंच भगवान् है। ऐसे नहीं कि सर्वव्यापी है। सर्वव्यापी कहना यह तो बाप को डिफेम करना है। बाप कहते हैं ग्लानि करते-करते धर्म ग्लानि हो गई है, भारत कंगाल, भ्रष्टाचारी बन गया है। ऐसे समय पर ही मुझे आना पड़ता है। भारत ही मेरा बर्थप्लेस है। सोमनाथ का मन्दिर, शिव का मन्दिर भी यहाँ है। मैं अपने बर्थ प्लेस को ही स्वर्ग बनाता हूँ, फिर रावण नर्क बनाता है अर्थात् रावण की मत पर चल नर्कवासी, आसुरी सम्प्रदाय बन पड़ते हैं। फिर उन्हों को बदलकर मैं दैवी सम्प्रदाय, श्रेष्ठाचारी बनाता हूँ। यह विषय सागर है। वह है क्षीर सागर। वहाँ घी की नदियाँ बहती हैं। सतयुग-त्रेता में भारत सदा सुखी सालवेन्ट था, हीरे जवाहरों के महल थे। अभी तो भारत 100 परसेन्ट इनसालवेन्ट है। मैं ही आकर 100 परसेन्ट सालवेन्ट, श्रेष्ठाचारी बनाता हूँ। अब तो ऐसे भ्रष्टाचारी बन गये हैं जो अपने दैवी धर्म को भूल गये हैं।

बाप बैठ समझाते हैं कि भक्ति मार्ग है छांछ, ज्ञान मार्ग है मक्खन। कृष्ण के मुख में मक्खन दिखलाते हैं यानि विश्व का राज्य था, लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे। बाप ही आकर बेहद का वर्सा देते हैं अर्थात् विश्व का मालिक बनाते हैं। कहते हैं मैं विश्व का मालिक नहीं बनता हूँ। अगर मालिक बनूँ तो फिर माया से हार भी खानी पड़े। माया से हार तुम खाते हो। फिर जीत भी तुमको पानी है। यह 5 विकारों में फँसे हुए हैं। अभी मैं तुमको मन्दिर में रहने लायक बनाता हूँ। सतयुग बड़ा मन्दिर है, उसको शिवालय कहा जाता है, शिव का स्थापन किया हुआ। कलियुग को वेश्यालय कहा जाता है, सब विकारी हैं। अब बाप कहते हैं देह के धर्म छोड़ अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो। तुम बच्चों की अब बाप से प्रीत है। तुम और कोई को याद नहीं करते हो। तुम हो विनाश काले प्रीत बुद्धि। तुम जानते हो कि श्री श्री 108 परमपिता परमात्मा को ही कहा जाता है। 108 की माला फेरते हैं। ऊपर में है शिवबाबा फिर मात-पिता ब्रह्मा-सरस्वती, फिर उनके बच्चे जो भारत को पावन बनाते हैं। रुद्राक्ष की माला गाई हुई है, उसको रूद्र यज्ञ भी कहा जाता है। कितना बड़ा राजस्व अश्वमेध अविनाशी ज्ञान यज्ञ है। कितने वर्षों से चला आता है। जो भी अनेक धर्म आदि हैं, सब इस यज्ञ में खत्म हो जाने हैं तब यह यज्ञ पूरा होगा। यह है अविनाशी बाबा का अविनाशी यज्ञ। सब सामग्री इसमें स्वाहा हो जानी है। पूछते हैं विनाश कब होगा? अरे, जो स्थापना करते हैं, उनको ही फिर पालना करनी होती है। यह है शिवबाबा का रथ। शिवबाबा इसमें रथी है। बाकी कोई घोड़े-गाड़ी आदि नहीं हैं। वह तो भक्तिमार्ग की सामग्री बैठ बनाई है। बाबा कहते हैं मैं इस प्रकृति का आधार लेता हूँ।

बाप समझाते हैं – पहले अव्यभिचारी भक्ति है फिर कलियुग अन्त में पूरी व्यभिचारी बन जाती है। फिर बाप आकर भारत को मक्खन देते हैं। तुम विश्व के मालिक बनने लिए पढ़ रहे हो। बाप आकर मक्खन खिलाते हैं। रावण राज्य में छांछ शुरू हो जाती है। ये सब समझने की बातें हैं। नये बच्चे तो इन बातों को समझ न सकें। परमपिता परमात्मा को ही ज्ञान का सागर कहा जाता है। बाप कहते हैं मैं इस भक्ति मार्ग से किसी को भी नहीं मिलता हूँ। मैं जब आता हूँ तब ही आकर भक्तों को भक्ति का फल देता हूँ। मैं लिबरेटर बनता हूँ, दु:ख से छुड़ाकर सबको शान्तिधाम, सुखधाम ले जाता हूँ। निश्चय बुद्धि विजयन्ति, संशय बुद्धि विनशन्ति।

बाप शमा है। उस पर परवाने कोई तो एकदम फिदा हो जाते हैं, कोई फेरी पहनकर चले जाते हैं। समझते कुछ नहीं हैं। फिदा होने वाले बच्चे जानते हैं बरोबर बेहद के बाप से हमको बेहद का वर्सा मिलता है। जो सिर्फ फेरी पहनकर चले जाते हैं वह तो फिर प्रजा में ही नम्बरवार आ जायेंगे। जो फिदा होते हैं वह वर्सा लेते हैं नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। पुरुषार्थ से ही प्रालब्ध मिलती है। ज्ञान का सागर एक ही बाप है। फिर ज्ञान प्राय: लोप हो जाता है। तुम सद्गति को पा लेते हो। सतयुग-त्रेता में कोई गुरू-गोसाई आदि नहीं होते। अभी सब उस बाप को याद करते हैं क्योंकि वह है ओशन ऑफ नॉलेज। सबकी सद्गति कर देते हैं। फिर हाहाकार बन्द हो जयजयकार हो जाती है, तुम सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। तुम अब त्रिकालदर्शी, त्रिनेत्री बने हो। तुमको रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त की सारी नॉलेज मिल रही है। यह कोई दन्त कथा नहीं है। गीता है भगवान् की गाई हुई परन्तु कृष्ण का नाम डाल खण्डन कर दिया है। तुम बच्चों को अब सबका कल्याण करना है। तुम हो शिव शक्ति सेना। वन्दे मातरम् गाया हुआ है। वन्दना पवित्र की ही की जाती है। कन्या पवित्र है तो सब उनकी वन्दना करते हैं। ससुर घर गई और विकारी बनी तो सबको माथा टेकती रहती है। सारा मदार पवित्रता पर है। भारत पवित्र गृहस्थ धर्म था। अभी अपवित्र गृहस्थ धर्म है। दु:ख ही दु:ख है। सतयुग में ऐसे नहीं होता। बाप बच्चों के लिए तिरी (हथेली) पर बहिश्त ले आते हैं। गृहस्थ व्यवहार में रहते बाप से जीवनमुक्ति का वर्सा ले सकते हो। घर-बार छोड़ने की कोई बात नहीं। सन्यासियों का निवृत्ति मार्ग अलग है। अब बाप से प्रतिज्ञा करते हैं – बाबा, हम पवित्र बन, पवित्र दुनिया के मालिक जरूर बनेंगे। फिर धरत परिये धर्म न छोड़िये। 5 विकारों का दान दो तो माया का ग्रहण छूटे, तब 16 कला सम्पूर्ण बनेंगे। सतयुग में हैं 16 कला सम्पूर्ण, सम्पूर्ण निर्विकारी…., अब श्रीमत पर चलकर फिर से ऐसा बनना है।

भगवान् है ही गरीब निवाज़। साहूकार इस ज्ञान को उठा नहीं सकते क्योंकि वह तो समझते हैं हमको धन आदि बहुत है, हम तो स्वर्ग में बैठे हैं इसलिए अबलायें, अहिल्यायें ही ज्ञान लेती हैं। भारत तो गरीब है। उनमें भी जो गरीब साधारण हैं, उन्हों को ही बाप अपना बनाते हैं। उन्हों की ही तकदीर में है। सुदामा का मिसाल गाया हुआ है ना। साहूकारों को समझने की फुर्सत नहीं। राजेन्द्र प्रसाद (भारत के प्रथम राष्ट्रपति) के पास बच्चियाँ जाती थी, कहती थी बेहद के बाप को जानो तो तुम हीरे तुल्य बन जायेंगे। 7 रोज़ का कोर्स करो। कहता था – हाँ, बात तो बहुत अच्छी है, रिटायर होने के बाद कोर्स उठाऊंगा। रिटायर हुआ तो बोले, बीमार हूँ। बड़े-बड़े आदमियों को फुर्सत नहीं है। पहले जब 7 रोज़ का कोर्स पूरा करे तब नारायणी नशा चढ़े। ऐसे थोड़ेही रंग चढ़ेगा। 7 रोज के बाद पता चलता है – यह लायक है वा नहीं है? लायक होगा तो फिर पढ़ने के लिए पुरुषार्थ में लग जायेगा। जब तक भट्ठी में पक्का रंग नहीं लगा है तब तक बाहर जाने से रंग ही उड़ जाता है, इसलिए पहले पक्का रंग चढ़ाना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) शिव शक्ति बन विश्व कल्याण करना है। पवित्रता के आधार पर कौड़ी तुल्य मनुष्यों को हीरे तुल्य बनाना है।

2) श्रीमत पर विकारों का दान दे सम्पूर्ण निर्विकारी 16 कला सम्पूर्ण बनना है। शमा पर फिदा होने वाला परवाना बनना है।

वरदान:- सदा अपने को सारथी और साक्षी समझ देह-भान से न्यारे रहने वाले योगयुक्त भव
योगयुक्त रहने की सरल विधि है – सदा अपने को सारथी और साक्षी समझकर चलना। इस रथ को चलाने वाली हम आत्मा सारथी हैं, यह स्मृति स्वत: इस रथ अथवा देह से वा किसी भी प्रकार के देह-भान से न्यारा (साक्षी) बना देती है। देह-भान नहीं तो सहज योगयुक्त बन जाते और हर कर्म भी युक्तियुक्त होता है। स्वयं को सारथी समझने से सर्व कर्मेन्द्रियां अपने कन्ट्रोल में रहती हैं। वह किसी भी कर्मेन्द्रिय के वश नहीं हो सकते।
स्लोगन:- विजयी आत्मा बनना है तो अटेन्शन और अभ्यास – इसे निज़ी संस्कार बना लो।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य

“सिर्फ ओम् के शब्द के उच्चारण से कोई फायदा नहीं”

ओम् रटो माना ओम् जपो, जिस समय हम ओम् शब्द कहते हैं तो ओम् कहने का मतलब यह नहीं कि ओम् शब्द का उच्चारण करना है सिर्फ ओम् कहने से कोई जीवन में फायदा नहीं। परन्तु ओम् के अर्थ स्वरूप में स्थित होना, उस ओम् के अर्थ को जानने से मनुष्य को वो शान्ति प्राप्त होती है। अब मनुष्य चाहते तो अवश्य हैं कि हमें शान्ति प्राप्त होवे। उस शान्ति स्थापन के लिये बहुत सम्मेलन करते हैं परन्तु रिजल्ट ऐसे ही दिखाई दे रही है जो और अशान्ति दु:ख का कारण बनता रहता है क्योंकि मुख्य कारण है कि मनुष्यात्मा ने जब तक 5 विकारों को नष्ट नहीं किया है तब तक दुनिया पर शान्ति कदाचित हो नहीं सकती। तो पहले हरेक मनुष्य को अपने 5 विकारों को वश करना है और अपनी आत्मा की डोर परमात्मा के साथ जोड़नी है तब ही शान्ति स्थापन होगी। तो मनुष्य अपने आपसे पूछें मैंने अपने 5 विकारों को नष्ट किया है? उन्हों को जीतने का प्रयत्न किया है? अगर कोई पूछे तो हम अपने 5 विकारों को वश कैसे करें, तो उन्हों को यह तरीका बताया जाता है कि पहले उन्हों को ज्ञान और योग का वास धूप लगाओ और साथ में परमपिता परमात्मा के महावाक्य हैं – मेरे साथ बुद्धियोग लगाए मेरे बल को लेकर मुझ सर्वशक्तिवान प्रभु को याद करने से विकार हटते रहेंगे। अब इतनी चाहिए साधना, जो खुद परमात्मा आकर हमें सिखाता है। अच्छा – ओम् शान्ति।

Font Resize