29 june ki murli

TODAY MURLI 29 JUNE 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 29 June 2020

29/06/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this study is the basis of your going into the future elevated clan. Only through this study can you change from beggars to princes.
Question: In which two ways can you receive a golden spoon in the mouth?
Answer: One is by giving donations and performing charity on the path of devotion. The other is by studying this knowledge. When you donate something or perform charity on the path of devotion, you take birth to a king or a wealthy person. However, that aspect is limited. By studying this knowledge, you receive a golden spoon in the mouth. This aspect is unlimited. You cannot receive a kingdom on the path of devotion by studying. Here, the better someone studies, the higher the status he claims.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you sweetest, long-lost and now-found children. This is called spiritual knowledge. The Father comes and tells you children of Bharat to consider yourselves to be souls and to remember the Father. The Father has especially given you this order. Therefore, you should listen to Him, should you not? The shrimat of the highest-on-high Father is very famous. You children know that only Shiv Baba is called Shri Shri. He also makes us shri shri. Shri means elevated. You children now know that it was the Father who made them (Lakshmi and Narayan) become like that. We are now studying for the new world. The new world is called heaven, the land of immortality. Many names are used to praise it. People speak of heaven and hell. They say that so-and-so became a resident of heaven, which means that he must have been a resident of hell. People have no basic understanding of what heaven is or what hell is, of what the new world is or what the old world is. They understand nothing of that at all. There is so much external splendour. Amongst you children too, only a few understand that it is definitely the Father who is teaching you. You have come here to become Lakshmi or Narayan. We will change from beggars to princes. First, we will go and become princes. This is a study. When you are studying to become an engineer or barristeretc., it remains in your intellect that you will later have a home built, that you will do this and that. Everyone is aware of their duties. You children will go and take birth in elevated families through this study. The more you study, the more elevated the family you take birth in will be. You will take birth to a king and then rule a kingdom. It is remembered: “Golden spoon in the mouth.” Firstly, you receive a golden spoon in the mouth by studying this knowledge. Secondly, when you donate a great deal and perform a lot of charity, you take birth to a king. However, that aspect is limited. The aspect here is unlimited. Understand everything very clearly. If you can’t understand anything, you can ask about it. Note down what you have to ask Baba. The main thing is to remember the Father. If you have any doubt, He puts it right. You children know that by donating and performing charity on the path of devotion, you take birth to a wealthy person. When someone does something bad, he takes birth accordingly. Some who come to Baba have such karmic bondages, don’t even ask! All of those karmic bondages come from the past. Some kings have very severe karmic bondages. Lakshmi and Narayan have no bondage at all. There, creation takes place through the power of yoga. Since we are able to claim the kingdom of the world with the power of yoga, can babies not be born in the same way? They have a vision in advance. That is a common thing there. Bands play with a lot of happiness. An elderly person changes into a child. Why a child is given greater respect than a mahatma (great soul) is because mahatmas grow old whilst passing through all the stages of life. They know all about vice whereas little children don’t know anything about that. This is why they are considered to be greater than mahatmas. There, (in the golden age) all are mahatmas. Even Krishna is said to be a great soul; he is a real mahatma. Only in the golden age are there great souls. There cannot be anyone like them here. You children should experience a lot of happiness inside because you are now going to take birth in the new world. This old world is to be destroyed. When a house becomes old, you become happy knowing that you are moving to a new one. Such beautiful houses of marble etc. are built. The Jains have a lot of money. They consider themselves to be of a very high clan. In fact, there are no high clans here. When looking for a marriage partner, they look for a high clan. There, there is no question of clans, etc. There, there is just the deity clan and no other clans. For this, you practise at the confluence age: We are all souls, children of the one Father. Firstly, there is the soul and then there is the body. Everyone in the world is body conscious. You now have to become soul conscious. Whilst living at home with your families, you have to make your stage powerful. Baba has so many children and such a big household. He must have so many concerns. This one too has to make effort. I am not a sannyasi. The Father has entered this one. There are the images of Brahma, Vishnu and Shankar and Brahma is the most elevated of them. So, if you put him aside, who else would the Father enter? Brahma is not newly born. You can see how he is adopted and how you become Brahmins. Only you know these things. What would others know? They say: Once he was a jeweller and now you call him Brahma! Do such people understand how so many Brahmins have been created? You have to explain each aspect very clearly. All of these things are very deep matters. This Brahma is corporeal (vyakt) and that one (in the subtle region) is subtle (avyakt). This Brahma becomes pure and then becomes that avyakt one. This one says: I am not pure at this time. I am becoming as pure as that one. Prajapita (Father of People) has to exist here. Where else would he come from? The Father Himself explains: I enter an impure body. Surely, this one would be called Prajapita. The one in the subtle region would not be called that. What would people do there? This one becomes pure independently. Just as this one makes effort, so you too have to make your own independent efforts and become pure. You are becoming the masters of the world. Heaven and hell are totally separate. Everything is now divided into pieces. It is a matter of 5000 years ago when it used to be your kingdom. However, those people speak of hundreds of thousands of years. Only those who understood these things a cycle ago will understand them now. You see all types of people – Muslims, Parsis, etc. – coming here. They may be Muslims, but they would then give this knowledge to Hindus. It is a wonder! For instance, someone who belongs to the Sikh religion teaches Raja Yoga. Those who have been converted will then be transferred back into the deity clan. The sapling is being planted. Christians and Parsis come to you. Buddhists will also come. You children know that when the time comes close, your name will be glorified everywhere. Many will come to you through just one lecture. They will all be reminded that this is their true religion. Those who belong to our religion will definitely come here. It is not a matter of hundreds of thousands of years. The Father sits here and explains: Yesterday, you belonged to the deity clan. You are now claiming your inheritance from the Father in order to become deities once again. You are the true Pandavas. Pandavas are guides. Those guides are physical. You Brahmins are spiritual guides. You are now studying with the unlimited Father. You should have such great intoxication about this. We are going to the Father from whom we receive our unlimited inheritance. That Father is also our Teacher. There is no need for tables and chairs etc. here. All the notes you write are only for your own efforts. In fact, all of this is a matter of understanding. Shiv Baba does not write with a pen etc. He picks up a pencil to write to you. You then understand that the letter in red writing has come to you from Shiv Baba. The Father writes: Spiritual children! You children also understand that that is your spiritual Father. He is the Highest on High. You have to follow His directions. The Father says: Lust is your greatest enemy. It causes sorrow from the time it starts through the middle to the end. Do not be influenced by that evil spirit. Become pure! People call out: O Purifier! You children receive great strength in order to rule so that no one can conquer you. You become so happy! Therefore, you should pay a great deal of attention to this study. We are receiving our kingdom. You know into what you are changing from what you were. The versions of God say, “I teach you Raj Yoga and make you into the king of kings.” No one knows who God is. Souls call out: O Baba! Therefore, they should know how and when He comes. Only human beings would know the beginning, middle and end of the drama and its duration. By knowing this, you become deities. Knowledge is for receiving salvation. It is now the end of the iron age. Everyone is in a state of degradation. In the golden age, there is salvation. You now know that Baba has come to grant everyone salvation. He has come to awaken everyone. This is not a graveyard, but everyone is in extreme darkness. Therefore, He comes to awaken them. The children who awaken from their deep slumber experience a great deal of happiness knowing that they are the children of Shiv Baba and that they have no worries of any kind. The Father is making us into the masters of the world where there is no mention of crying. This is the world of crying. That is the world of cheerfulness. Look how beautiful and cheerful their faces are in the pictures! Their features cannot be created identically here. Your intellects can understand that their features must be something like that. You sweetest children now remember that you are becoming the future princes of the land of immortality. This land of death, this haystack, has to be set on fire. In a civil war, they continue to kill one another without even realising whom they are killing. After the cries of distress, there will be cries of victory. There will be victory for you and everyone else will be destroyed. You will be threaded in the rosary of Rudra and then in the rosary of Vishnu. You are now making effort to return home. Devotion has spread so much. Devotion has spread like a tree with so many leaves. The seed is knowledge. The seed is so tiny. The Seed is Baba. You now know how this tree grows, how it is sustained and how it is destroyed. This is the inverted tree of the variety of religions. Not a single person in the world knows this. You children now have to make a lot of effort to remember the Father so that your sins can be absolved. The people who recite the Gita also say: Manmanabhav! Renounce all bodily religions, consider yourself to be a soul and remember the Father! However, no one understands the real meaning of that. That is the path of devotion. This is the path of knowledge. A kingdom is being established. There is nothing to worry about. Those who have heard a little knowledge will become part of the subjects. Knowledge can never be destroyed. Those who know this accurately and make effort will claim a high status. Your intellects understand that we are going to become the princes of the new world. When students pass their examinations, they become so happy. You should experience a thousand-fold greater supersensuous joy: you are becoming the masters of the whole world! You must never sulk in any situation. If you are unable to get on with your Brahmin teacher, you then sulk with the Father. O, connect your intellect in yoga to the Father. Remember Him with a lot of love. Baba, I will continue to remember You and return home. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t worry about anything. Always remain cheerful. Always remain aware that you are Shiv Baba’s children and that the Father has come to make you into the masters of the world.
  2. In order to make your stage constant, make effort to become soul conscious. Remove all your attachment from this old home.
Blessing: May you be a true trustee who experiences the stage of liberation in life by breaking the cage of bondages.
Bondage of bodies and relations is a cage. You have to fulfil your family duties in name, not with attachment and you will then be said to be free from bondage. Those who move along as trustees are free from bondage. If there is any consciousness of “mine”, that is like being in a cage. You have now become angels from being like parrots in a cage, and so let there not be the slightest bondage, not even any bondage in your minds. “What can I do? How can I do this? I want to, but it doesn’t happen…” All of these are bondages of the mind. When you have died alive, all your bondages finish and you just simply continue to experience the stage of being liberated in life.
Slogan: When you save your thoughts, your time and words will automatically be saved.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 29 JUNE 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 June 2020

Murli Pdf for Print : – 

29-06-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – भविष्य ऊंच घराने में आने का आधार है पढ़ाई, इस पढ़ाई से ही तुम बेगर टू प्रिन्स बन सकते हो”
प्रश्नः- गोल्डन स्पून इन माउथ दो प्रकार से प्राप्त हो सकता है, कैसे?
उत्तर:- एक भक्ति में दान-पुण्य करने से, दूसरा, ज्ञान में पढ़ाई से। भक्ति में दान-पुण्य करते हैं तो राजा या साहूकार के पास जन्म लेते हैं लेकिन वह हो गया हद का। तुम ज्ञान में पढ़ाई से गोल्डन स्पून इन माउथ पाते हो। यह है बेहद की बात। भक्ति में पढ़ाई से राजाई नहीं मिलती। यहाँ जो जितना अच्छी रीति पढ़ते हैं, उतना ऊंच पद पाते हैं।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों को रूहानी बाप बैठ समझाते हैं, इनको कहा जाता है रूहानी ज्ञान। बाप आकर भारतवासी बच्चों को समझाते हैं, अपने को आत्मा समझो और बाप को याद करो, यह बाप ने खास फ़रमान किया है तो वह मानना चाहिए ना। ऊंच ते ऊंच बाप की श्रीमत मशहूर है। यह भी तुम बच्चों को ज्ञान है कि सिर्फ शिवबाबा को ही श्री श्री कह सकते हैं। वही श्री श्री बनाते हैं, श्री माना श्रेष्ठ। तुम बच्चों को अभी पता पड़ा है कि इन्हों को बाप ने ऐसा बनाया। हम अभी नई दुनिया के लिए पढ़ रहे हैं। नई दुनिया का नाम ही है स्वर्ग, अमरपुरी। महिमा के लिए नाम बहुत हैं। कहते भी हैं स्वर्ग और नर्क। फलाना स्वर्गवासी हुआ तो गोया नर्कवासी थे ना। परन्तु मनुष्यों में इतनी समझ नहीं, स्वर्ग-नर्क, नई दुनिया, पुरानी दुनिया किसको कहा जाता है, कुछ भी जानते नहीं। बाहर का भभका कितना है। तुम बच्चों में भी थोड़े हैं जो समझते हैं बरोबर हमको बाप पढ़ाते हैं। हम यह लक्ष्मी-नारायण बनने के लिए आये हैं। हम बेगर टू प्रिन्स बनेंगे। पहले-पहले हम जाकर राजकुमार बनेंगे। यह पढ़ाई है, जैसे इन्जीनियरी, बैरिस्टरी आदि पढ़ते हैं तो बुद्धि में रहता है कि हम घर बनायेंगे फिर यह करेंगे…. हर एक को अपना कर्तव्य स्मृति में आता है। तुम बच्चों को जाकर बड़े ऊंच घर में जन्म लेना है इस पढ़ाई से। जो जितना जास्ती पढ़ेगा उतना बहुत ऊंच घर में जन्म लेगा। राजा के घर में जन्म ले फिर राजाई चलानी है। गाया भी जाता है गोल्डन स्पून इन माउथ। एक तो ज्ञान द्वारा यह गोल्डन स्पून इन माउथ मिल सकता है। दूसरा, अगर दान-पुण्य अच्छी रीति करें तो भी राजा के पास जन्म मिलेगा। वह हो गया हद का। यह है बेहद का। हर एक बात अच्छी रीति समझो। कुछ भी समझ में न आये तो पूछ सकते हो। नोट करो यह-यह बातें बाबा से पूछना है। मुख्य है ही बाप के याद की बात। बाकी कोई संशय आदि है तो उनको ठीक कर देंगे। यह भी बच्चे जानते हैं जितना भक्ति मार्ग में दान-पुण्य करते हैं तो साहूकार के पास जन्म लेते हैं। जो कोई बुरा कर्म करते हैं तो फिर ऐसा जन्म मिलता है, बाबा के पास आते हैं। कोई-कोई को तो ऐसे कर्मबन्धन हैं जो बात मत पूछो। यह सब है पास्ट का कर्मबन्धन। राजायें भी कोई-कोई ऐसे होते हैं, बड़ा कर्मबन्धन कड़ा होता है। इन लक्ष्मी-नारायण को तो कोई बंधन नहीं। वहाँ है ही योगबल की रचना। जबकि योगबल से हम विश्व की राजाई ले सकते हैं तो क्या बच्चा पैदा नहीं हो सकता! पहले से ही साक्षात्कार हो जाता है। वहाँ तो यह कॉमन बात है। खुशी में बाजे बजते रहते हैं। बूढ़े से बच्चा बन जाते। महात्मा से भी बच्चे को जास्ती मान दिया जाता है क्योंकि वह महात्मा तो फिर भी सारी लाइफ पास कर बड़ा हुआ है। विकारों को जानते हैं। छोटे बच्चे नहीं जानते इसलिए महात्मा से भी ऊंच कहा जाता है। वहाँ तो सब महात्मायें हैं। कृष्ण को भी महात्मा कहते हैं। वह है सच्चा महात्मा। सतयुग में ही महान् आत्मायें होते हैं। उन जैसे यहाँ कोई हो न सके।

तुम बच्चों को अन्दर में बहुत खुशी होनी चाहिए। अभी हम नई दुनिया में जन्म लेंगे। यह पुरानी दुनिया खत्म होनी है। घर पुराना होता है तो नये घर की खुशी होती है ना। कितने अच्छे-अच्छे मार्बल आदि के घर बनाते हैं। जैनी लोगों के पास पैसे बहुत होते हैं, वह अपने को ऊंच कुल के समझते हैं। वास्तव में यहाँ कोई ऊंच कुल तो है नहीं। ऊंच कुल में शादी के लिए घर ढूंढते हैं। वहाँ कुल आदि की बात नहीं होती। वहाँ तो एक ही देवताओं का कुल होता है, दूसरा न कोई। इसके लिए तुम संगम पर अभ्यास करते हो कि हम एक बाप के बच्चे सब आत्मा हैं। आत्मा है फर्स्ट, पीछे है शरीर। दुनिया में सब देह-अभिमानी रहते हैं। तुमको अभी देही-अभिमानी बनना है। गृहस्थ व्यवहार में रहते अपनी अवस्था को जमाना है। बाबा को कितने बच्चे हैं, कितना बड़ा गृहस्थ है, कितने ख्यालात रहते होंगे। इनको भी मेहनत करनी पड़ती है। मैं कोई संन्यासी नहीं हूँ। बाप ने इनमें प्रवेश किया है। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर का चित्र भी है ना। ब्रह्मा है सबसे ऊंच। तो उनको छोड़ बाप किसमें आयेंगे। ब्रह्मा कोई नया पैदा नहीं होता। देखते हो ना-इनको कैसे एडाप्ट करता हूँ। तुम कैसे ब्राह्मण बनते हो। इन बातों को तुम ही जानो और क्या जानें। कहते हैं यह तो जवाहरी था, इनको तुम ब्रह्मा कहते हो! उनको क्या पता इतने ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ कैसे पैदा होंगे। एक-एक बात में कितना समझाना पड़ता है। यह बहुत गुह्य बातें हैं ना। यह ब्रह्मा व्यक्त, वह अव्यक्त। यह पवित्र बन फिर अव्यक्त हो जाते। यह कहते हैं – मैं इस समय पवित्र नहीं हूँ। ऐसा पवित्र बन रहा हूँ। प्रजापिता तो यहाँ होना चाहिए ना। नहीं तो कहाँ से आये। बाप खुद समझाते हैं मैं पतित शरीर में आता हूँ, जरूर इनको ही प्रजापिता कहेंगे। सूक्ष्मवतन में नहीं कहेंगे। वहाँ प्रजा क्या करेगी। यह इन्डिपेन्डेन्ट पवित्र बन जाते हैं। जैसे यह भी पुरूषार्थ करते हैं वैसे तुम पुरूषार्थ कर इन्डिपेन्डेन्ट पवित्र बन जाते हो। विश्व के मालिक बनते हो ना। स्वर्ग अलग, नर्क अलग है। अभी तो कितना टुकड़ा-टुकड़ा हो गया है। 5 हज़ार वर्ष पहले की बात है जबकि इनका राज्य था। वो लोग फिर लाखों वर्ष कह देते हैं। ये बातें समझेंगे भी वही जिन्होंने कल्प पहले समझा होगा। तुम देखते हो यहाँ मुसलमान, पारसी आदि सब आते हैं। खुद मुसलमान फिर हिन्दुओं को नॉलेज दे रहे हैं। वन्डर है ना। समझो कोई सिक्ख धर्म के हैं, वह भी बैठ राजयोग सिखलाते हैं। जो कनवर्ट हुए हैं वह फिर ट्रांसफर हो देवता कुल में आ जायेंगे। सैपलिंग लगता है। तुम्हारे पास क्रिश्चियन, पारसी भी आते हैं, बौद्धी भी आयेंगे। तुम बच्चे जानते हो जब समय नजदीक आयेगा तब चारों ओर से हमारा नाम निकलेगा। एक ही भाषण तुम करेंगे तो ढेर तुम्हारे पास आ जायेंगे। सबको स्मृति आ जायेगी हमारा सच्चा धर्म यह है। जो हमारे धर्म के होंगे वह सब आयेंगे तो सही ना। लाखों वर्ष की बात नहीं है। बाप बैठ समझाते हैं तुम कल देवता थे, अभी फिर देवता बनने के लिए बाप से वर्सा ले रहे हो।

तुम सच्चे-सच्चे पाण्डव हो, पाण्डव अर्थात् पण्डे। वो हैं जिस्मानी पण्डे। तुम ब्राह्मण हो रूहानी पण्डे। तुम अभी बेहद के बाप से पढ़ रहे हो। यह नशा तुमको बहुत होना चाहिए। हम बाप के पास जाते हैं, जिनसे बेहद का वर्सा मिलता है। वह हमारा बाप टीचर भी है, इसमें पढ़ने के लिए कोई टेबुल कुर्सी आदि की दरकार नहीं। यह तुम लिखते हो सो भी अपने पुरूषार्थ के लिए। वास्तव में यह समझने की बात है। शिवबाबा तुमको पत्र लिखने के लिए यह पेन्सिल आदि उठाते हैं, बच्चे समझेंगे शिवबाबा के लाल अक्षर आये हैं। बाप लिखते हैं रूहानी बच्चे। बच्चे भी समझते हैं रूहानी बाबा। वह बहुत ऊंच ते ऊंच है, उनकी मत पर चलना है। बाप कहते हैं काम महाशत्रु है। यह आदि-मध्य-अन्त दु:ख देने वाला है। उस भूत के वश मत हो। पवित्र बनो। बुलाते भी हैं हे पतित-पावन। तुम बच्चों को अभी बड़ी ताकत मिलती है, राज्य करने की। जो कोई जीत पा न सके। तुम कितने सुखी बनते हो। तो इस पढ़ाई पर कितना अटेन्शन देना चाहिए। हमको बादशाही मिलती है। तुम जानते हो हम क्या से क्या बन रहे हैं। भगवानुवाच है ना। मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ, राजाओं का राजा बनाता हूँ। भगवान किसको कहा जाता है, यह भी किसको पता नहीं है। आत्मा पुकारती है-ओ बाबा! तो मालूम होना चाहिए ना – वह कब और कैसे आयेंगे? मनुष्य ही तो ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त, ड्युरेशन आदि को जानेंगे ना। जानने से तुम देवता बन जाते हो। ज्ञान है ही सद्गति के लिए। इस समय है कलियुग का अन्त। सब दुर्गति में हैं। सतयुग में होती है सद्गति। अभी तुम जानते हो बाबा आया हुआ है-सर्व की सद्गति करने। सबको जगाने आये हैं। कोई कब्र थोड़ेही है। परन्तु घोर अन्धियारे में पड़े हैं, उनको जगाने आते हैं। जो बच्चे घोर नींद से जग जाते हैं उनके अन्दर खुशी बहुत होती है, हम शिवबाबा के बच्चे हैं, कोई किस्म का फिक्र नहीं है। बाप हमको विश्व का मालिक बनाते हैं। रोने का नाम नहीं। यह है रोने की दुनिया। वह है हर्षित रहने की दुनिया। उन्हों के चित्र देखो कैसे शोभनिक हंसमुख बनाते हैं। वह फीचर्स तो यहाँ निकाल न सकें। बुद्धि से समझते हैं इन जैसे फीचर्स देखने में आते हैं। तुम मीठे-मीठे बच्चों को अभी स्मृति आई है कि भविष्य में अमरपुरी के हम प्रिन्स बनेंगे। इस मृत्युलोक को, इस भंभोर को आग लगनी है। सिविलवार में भी एक-दो को मारते कैसे हैं, किसको हम मारते हैं वह भी पता नहीं पड़ता है। हाहाकार के बाद जयजयकार होनी है। तुम्हारी विजय, बाकी सब विनाश हो जायेंगे। रूद्र की माला में पिरोकर फिर विष्णु की माला में पिरोये जायेंगे। अभी तुम पुरूषार्थ करते हो अपने घर जाने के लिए। भक्ति का कितना फैलाव है। जैसे झाड़ के अनेक पत्ते होते हैं वैसे भक्ति का फैलाव है। बीज है ज्ञान। बीज कितना छोटा है। बीज है बाबा, इस झाड़ की स्थापना, पालना और विनाश कैसे होता है, यह तुम जानते हो। यह वैरायटी धर्मों का उल्टा झाड़ है। दुनिया में एक भी नहीं जानते। अब बच्चों को बहुत मेहनत करनी है बाप को याद करने की, तो विकर्म विनाश हो। वह गीता सुनाने वाले भी कहते हैं मनमनाभव। सब देह के धर्म छोड़ अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। मनुष्य इसका अर्थ थोड़ेही समझते हैं। वह है ही भक्ति मार्ग। यह है ज्ञान मार्ग। यह राजधानी स्थापन हो रही है। फिक्र की कोई बात नहीं। जिसने थोड़ा भी ज्ञान सुना तो प्रजा में आ जायेंगे। ज्ञान का विनाश नहीं होता है। बाकी जो यथार्थ जान पुरूषार्थ करते हैं वही ऊंच पद पाते हैं। यह बुद्धि में समझ है ना। हम प्रिन्स बनने वाले हैं, नई दुनिया में। स्टूडेन्ट इम्तहान पास करते हैं तो उनको कितनी खुशी होती है। तुमको तो हजार बार जास्ती अतीन्द्रिय सुख होना चाहिए। हम सारे विश्व के मालिक बनते हैं। कोई भी बात में कभी रूठना नहीं है। ब्राह्मणी से नहीं बनती है, बाप से रूठते हैं, अरे तुम बाप से बुद्धि का योग लगाओ ना। उनको तो प्यार से याद करो। बाबा बस आपको ही याद करते-करते हम घर आ जायेंगे। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी भी बात का फिक्र नहीं करना है, सदा हर्षित रहना है। स्मृति रहे हम शिवबाबा के बच्चे हैं, बाप आये हैं हमें विश्व का मालिक बनाने।

2) अपनी अवस्था को एकरस बनाने के लिए देही-अभिमानी बनने का पुरूषार्थ करना है। इस पुराने घर से ममत्व निकाल देना है।

वरदान:- बन्धनों के पिंजड़े को तोड़कर जीवनमुक्त स्थिति का अनुभव करने वाले सच्चे ट्रस्टी भव
शरीर का वा सम्बन्ध का बन्धन ही पिंजड़ा है। फर्जअदाई भी निमित्त मात्र निभानी है, लगाव से नहीं तब कहेंगे निर्बन्धन। जो ट्रस्टी बनकर चलते हैं वही निर्बन्धन हैं यदि कोई भी मेरापन है तो पिंजड़े में बंद हैं। अभी पिंजड़े की मैना से फरिश्ते बन गये इसलिए कहाँ जरा भी बंधन न हो। मन का भी बंधन नहीं। क्या करूं, कैसे करूं, चाहता हूँ होता नहीं-यह भी मन का बंधन है। जब मरजीवा बन गये तो सब प्रकार के बंधन समाप्त, सदा जीवनमुक्त स्थिति का अनुभव होता रहे।
स्लोगन:- संकल्पों को बचाओ तो समय, बोल सब स्वत: बच जायेंगे।

TODAY MURLI 29 JUNE 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 June 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 June 2019 :- Click Here

29/06/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your sins are absolved by having remembrance, not tranceTrance is a game worth only a few pennies. Therefore, do not have any desire to go into trance.
Question: What one caution does the Father give all of you children in order to save you from different forms of Maya?
Answer: Sweet children, do not have any desire for trance. Knowledge and yoga have no connection with trance. The main thing is the study. Some go into trance and say, “Mama entered me,” or, “Baba entered me”. All of those are subtle thoughts of Maya about which you have to remain very cautious. Maya enters many children and makes them act wrongly. Therefore, do not have any desire for trance.

Om shanti. Sweetest, spiritual children, you have understood that, on one side, there is devotion and, on the other side, there is knowledge. There is a lot of devotion and there are many people to teach you that. The scriptures, as well as human beings, teach you that. Here, neither are there any scriptures nor is it a human being. Here, it is the one spiritual Father who is teaching and explaining to you souls. It is souls that imbibes everything. The Supreme Father, the Supreme Soul, has all of this knowledge. He has the knowledge of the cycle of 84 births and this is why He can also be called the Spinner of the discus of self-realisation. He is making us children into spinners of the discus of self-realisation. Baba is in the body of Brahma and so He too can be called a Brahmin. We, His children, also become Brahmins who then become deities. The Father now sits here and teaches you the pilgrimage of remembrance. There is no question of hatha yoga in this. Those people go into trance through hatha yoga. That is not anything great. There is no greatness in tranceTrance is a game worth only a few pennies. You must never say to anyone that you go into trance because, nowadays, many people everywhere abroad go into trance. By going into trance, neither do they benefit nor do you benefit. Baba has given you the understanding that there is neither the pilgrimage of remembrance nor any knowledge in trance. Those who go into trance would never listen to knowledge nor would their sins be burnt away. Trance has no importance. Children have yoga, but that is not called trance. Your sins will be absolved by having remembrance. Sins cannot be absolved with trance. Baba cautions you: Children, do not have any interest in going into trance. You know that those sannyasis etc. receive knowledge when it is time for destruction. Although you may continue to invite them, this knowledge will not enter their urn (intellect) quickly. They will come when they see destruction in front of them. They will then understand that death is about to come. When they see it coming close, they will believe you. Their part is at the end. You say that destruction is now about to come and that death has to come. Those people think that you are lying. Your tree grows slowly. You simply have to tell the sannyasis: Remember the Father. The Father has also explained that you mustn’t close your eyes. If your eyes are closed, how would you be able to see the Father? We are souls and we are sitting in front of the Supreme Father, the Supreme Soul. He cannot be seen, but our intellects have this knowledge. You children understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching us with the support of this body. There is no question of trance etc. To go into trance is not a big thing. Offering bhog etc. is fixed in the drama. You (trance messengers) become servants and come back having offered bhog. It is like servants who serve important people with food. You too are servants who go and offer bhog to the deities. They are angels. You see Mama and Baba there. That perfect image is your aim and objective. Who made them into such angels? To go into trance is not a big thing. Just as Shiv Baba is teaching you here, in the same way, there, too, Shiv Baba will explain something to you through this one. You just have to know what happens in the subtle region, but you mustn’t give any importance to trance etc. To demonstrate going into tranceis also childishness. Baba cautions everyone: Do not go into trance. Maya often also interferes in that. This is a study which the Father comes and teaches you every cycle. It is now the confluence age. You have to be transferred. You are playing your parts according to the dramaplan. There is praise of your parts. The Father comes and teaches you according to the drama. You have to study with the Father once and definitely change from human beings into deities. You children have a lot of happiness in this. We now know the Father and the beginning, middle and end of creation. You should be very happy that you receive teachings from the Father. You study in order to go to the new world. There, it is the kingdom of deities and so you certainly have to study at the most auspicious confluence age. You become liberated from this sorrow and then go into happiness. Here, because you are tamopradhan, you fall ill etc. All of these illnesses are to end. The main thing is the study which has no connection with trance etc. That is not a big thing. In many places, some go into trance and then say that Mama came or that Baba came. The Father says: All of that is nothing. The Father only explains one thing: You have been body conscious for half the cycle; now become soul conscious and remember the Father and your sins will be absolved. This is called the pilgrimage of remembrance. By calling it yoga, you cannot prove it is a pilgrimage. You souls have to go from here and become satopradhan from tamopradhan. You are now on the pilgrimage. Their yoga doesn’t have any pilgrimage in it. There are so many hatha yogis. That is hatha yoga whereas this is remembrance of the Father. The Father says: Sweetest children, consider yourselves to be souls. No one else would ever explain in this way. This is a study. When you become a child of the Father, you have to study with Him and then also teach others. Baba says: Open museums and people will come to you by themselves; you won’t have to take the trouble to invite them. They would say: This knowledge is very good. We have never heard it before. Here, your character is reformed. The main thing is purity due to which there is upheaval. Many still fail in this. Your stage becomes such that, while in this world, you don’t see it. While eating and drinking, your intellects should be in that direction just as when a father is having a new home built everyone’s intellect is drawn to the new home. The new world is now being created and the unlimited Father is building the unlimited home. You know that we are making effort to become residents of heaven. The cycle has now come to an end. We now have to go home and then to heaven and so we must definitely become pure in order to do that. You have to become pure with the pilgrimage of remembrance. It is in remembrance that there are obstacles and it is in this that you have to battle. There is no question of a battle when studying. The study is very simple. The knowledge of the cycle of 84 births is very easy, but to consider yourself to be a soul and remember the Father requires effort. The Father says: Do not forget the pilgrimage of remembrance. Definitely remember Baba for at least eight hours. You also have to act for your physical livelihood. You have to have some sleep too. This is an easy path. If you were told not to have any sleep, it would become hatha yoga. There are many hatha yogis. The Father says: Do not look at anything in that direction; there is no benefit in that. So many people teach hatha yoga etc. All of those are the directions of human beings. You are souls and it is each soul that takes a body and plays his part by becoming a doctor etc. However, people have become body conscious and think: I am so-and-so. You now have it in your intellects that you are souls and that the Father is also a soul. At this time, the Supreme Father is teaching you. This is why it is remembered that souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. You meet Him every cycle. All the rest of the world teach and study in body consciousness, considering themselves to be bodies, whereas you study while considering yourselves to be souls. The Father says: I am teaching you souls. It is souls that become judges or barristersetc. You souls were pure and satopradhan. Then, while playing your parts, you have all now become impure. This is why you call out: Baba, come and make us into pure souls. The Father is pure. Only when you listen to these things do you imbibe them. You children become deities when you imbibe these things. These things will not sit in the intellect of anyone else, because these things are new. This is knowledge and that is devotion. You too become body conscious while performing devotion. The Father says: Children, now become soul conscious. The Father is teaching us souls through this body. Repeatedly remember that this is the only time when the Father of all souls, the Supreme Father, teaches you. Except for this confluence age, He doesn’t have a part at any time in the drama. This is why the Father repeatedly says: Sweetest children, have the faith that you are souls and remember the Father. This is a very high pilgrimage. If you climb, you can taste the sweetness of heaven. By falling into vice, you become completely crushed. In spite of that, you will go to heaven, but your status will be very low. A kingdom is being established. Those with a low status are also required there. Not everyone follows the path of knowledge. If they did, Baba would find so many children. Even if He does find them, that is only for a short time. You mothers are praised a lot. It is said: Salutations to the mothers. Such a big mela for Jagadamba takes place because she did a lot of service. Those who do a lot of service become great kings. It is your memorial that is in the Dilwala Temple. You daughters should find a lot of time. When you prepare food, you should sit in remembrance and make the food very pure so that the heart of whomever you serve it to also becomes pure. There are very few who receive such food. Ask yourself: Am I preparing food while staying in remembrance of Shiv Baba, so that the hearts of those who eat it will melt as soon as they eat it? You repeatedly forget to stay in remembrance. Baba says: It is fixed in the drama for you to forget because you have not yet become 16 celestial degrees full. You definitely have to become perfect. The full moon is so bright, and it then decreases to just a line; it becomes completely dark and then it becomes completely bright. If you souls renounce those vices etc. and continue to remember the Father, you will become perfect. You want to become emperors but not everyone can become that. Everyone has to make effort. Some don’t make any effort at all, and this is why it is said: Elephant riders, horse riders and foot soldiers (infantry). There are few maharathis. There aren’t as many commanders and majors as there are subjects and soldiers. Amongst you, too, there are commandersmajors and captains. There are also the foot soldiers. This is your spiritual army. Everything depends on the pilgrimage of remembrance. It is by having this that you will receive power. You are the incognito warriors. By your remembering the Father, the rubbish of your sins is burnt away. The Father says: You may do your business etc. but remember the Father. You have been lovers of the one Beloved for birth after birth. Now that you have found that Beloved, you have to remember Him. Previously, although you used to remember Him, your sins weren’t absolved through that. The Father has told you that you have to become satopradhan from tamopradhan here. It is souls that have to become this. It is souls that are making effort. You have to remove the dirt of many births in this one birth. This is the final birth in the land of death and you then have to go to the land of immortality. Souls cannot go there without becoming pure. Everyone’s karmic accounts have to be settled. Then, if you experience punishment, your status will be reduced. Those who don’t experience punishment are said to be the eight beads of the rosary. Rings of nine jewels are made. If you want to become like that, you have to make a lot of effort to remember the Father. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Transfer yourself at the confluence age. Reform your character by studying and by imbibing purity. Do not have any interest in going into trance etc.
  2. Act for the livelihood of your body but also have some sleep because this is not hatha yoga. However, you must never forget the pilgrimage of remembrance. Remain so yogyukt while preparing pure food and serving others with it that the hearts of those who eat it become pure.
Blessing: May you be a true spiritual server who does all types of service with love and a true heart.
It may be any type of service, but when it is done with love and a true heart you then receive 100 marks for it. Let there not be any irritation in service, let service not just be in name. Your service is to put right that which has gone wrong, to give happiness to everyone, to make souls yogya (capable, worthy) and yogi, to uplift those who defame you and to give your company and co-operation at a time of need. Those who do such service are true spiritual servers.
Slogan: Invoke your perfect form and you will be freed from your stage going up and down.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 29 JUNE 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 June 2019

To Read Murli 28 June 2019 :- Click Here
29-06-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – याद से विकर्म विनाश होते हैं, ट्रांस से नहीं। ट्रांस तो पाई पैसे का खेल है, इसलिए ट्रांस में जाने की आश नहीं रखो”
प्रश्नः- माया के भिन्न-भिन्न रूपों से बचने के लिए बाप सब बच्चों को कौन-सी एक सावधानी देते हैं?
उत्तर:- मीठे बच्चे, ट्रांस की आश मत रखो। ज्ञान-योग में ट्रांस का कोई कनेक्शन नहीं। मुख्य है पढ़ाई। कोई ट्रांस में जाकर कहते हैं हमारे में मम्मा आई, बाबा आया। यह सब सूक्ष्म माया के संकल्प हैं, इनसे बहुत सावधान रहना है। माया कई बच्चों में प्रवेश कर उल्टा कार्य करा देती है इसलिए ट्रांस की आश नहीं रखनी है।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे यह तो समझ गये हैं कि एक तरफ है भक्ति, दूसरे तरफ है ज्ञान। भक्ति तो अथाह है और सिखाने वाले अनेक हैं। शास्त्र भी सिखाते हैं, मनुष्य भी सिखाते हैं। यहाँ न कोई शास्त्र हैं, न मनुष्य हैं। यहाँ सिखाने वाला एक ही रूहानी बाप है जो आत्माओं को समझाते हैं। आत्मा ही धारण करती है। परमपिता परमात्मा में यह सारा ज्ञान है, 84 के चक्र का उनमें नॉलेज है, इसलिए उनको भी स्वदर्शन चक्रधारी कह सकते हैं। हम बच्चों को भी वह स्वदर्शन चक्रधारी बना रहे हैं। बाबा भी ब्रह्मा के तन में है, इसलिए उनको ब्राह्मण भी कहा जा सकता है। हम भी उनके बच्चे ब्राह्मण सो देवता बनते हैं। अब बाप बैठ याद की यात्रा सिखलाते हैं, इसमें हठयोग आदि की कोई बात नहीं। वह लोग हठयोग से ट्रांस आदि में जाते हैं। यह कोई बड़ाई नहीं है। ट्रांस की बड़ाई कुछ भी नहीं है। ट्रांस तो एक पाई पैसे का खेल है। तुम्हें ऐसे कभी किसी को नहीं कहना है कि हम ट्रांस में जाते हैं क्योंकि आजकल विलायत आदि में जहाँ-तहाँ ढेर के ढेर ट्रांस में जाते हैं। ट्रांस में जाने से न उनको कोई फ़ायदा है, न तुमको कोई फ़ायदा है। बाबा ने समझ दी है। ट्रांस में न तो याद की यात्रा है, न ज्ञान है। ध्यान अथवा ट्रांस वाला कभी कुछ भी ज्ञान नहीं सुनेगा, न कोई पाप भस्म होंगे। ट्रांस का महत्व कुछ भी नहीं है। बच्चे योग लगाते हैं, उनको कोई ट्रांस नहीं कहा जाता है। याद से विकर्म विनाश होंगे। ट्रांस में विकर्म विनाश नहीं होंगे। बाबा सावधान करते हैं कि बच्चे ट्रांस का शौक मत रखो।

तुम जानते हो इन सन्यासियों आदि को ज्ञान तब मिलता है जबकि विनाश का समय होता है। भल तुम उन्हें ऐसे निमंत्रण देते रहो लेकिन यह ज्ञान उनके कलष में जल्दी नहीं आयेगा। जब विनाश सामने देखेंगे तब आयेंगे। समझेंगे अब तो मौत आया कि आया। जब नज़दीक देखेंगे तब मानेंगे। उन्हों का पार्ट ही अन्त में है। तुम कहते हो अब विनाश आया कि आया, मौत आना है। वह समझते हैं इन्हों के यह गपोड़े हैं।

तुम्हारा झाड़ धीरे-धीरे बढ़ता है। सन्यासियों को सिर्फ कहना है कि बाप को याद करो। यह भी बाप ने समझाया है कि तुमको ऑखें बन्द नहीं करनी हैं। आंखे बन्द होंगी तो बाप को कैसे देखेंगे। हम आत्मा हैं, परमपिता परमात्मा के सामने बैठे हैं। वह देखने में नहीं आता है, लेकिन यह ज्ञान बुद्धि में है। तुम बच्चे समझते हो परमपिता परमात्मा हमको पढ़ा रहे हैं – इस शरीर के आधार से। ध्यान आदि की कोई बात ही नहीं। ध्यान में जाना कोई बड़ी बात नहीं है। यह भोग आदि की ड्रामा में सब नूँध है। सर्वेन्ट बन भोग लगाकर आते हो। जैसे सर्वेन्ट लोग बड़े आदमी को खिलाते हैं। तुम भी सर्वेन्ट हो, देवताओं को भोग लगाने जाते हो। वह हैं फ़रिश्ते। वहाँ मम्मा-बाबा को देखते हैं। वह सम्पूर्ण मूर्ति भी एम आब्जेक्ट है। उनको ऐसा फ़रिश्ता किसने बनाया? बाकी ध्यान में जाना तो कोई बड़ी बात नहीं है। जैसे यहाँ शिवबाबा तुमको पढ़ाते हैं, वैसे वहाँ भी शिवबाबा इन द्वारा कुछ समझायेंगे। सूक्ष्मवतन में क्या होता है, यह सिर्फ जानना होता है। बाकी ट्रांस आदि को कुछ भी महत्व नहीं देना है। कोई को ट्रांस दिखलाना – यह भी बचपन है। बाबा सबको सावधान करते हैं – ट्रांस में मत जाओ, इसमें भी कई बार माया प्रवेश हो जाती है।

यह पढ़ाई है, कल्प-कल्प बाप आकर तुमको पढ़ाते हैं। अभी है संगमयुग। तुमको ट्रांसफर होना है। ड्रामा के प्लैन अनुसार तुम पार्ट बजा रहे हो, पार्ट की महिमा है। बाप आकर पढ़ाते हैं ड्रामा अनुसार। तुमको बाप से एक बार पढ़कर मनुष्य से देवता जरूर बनना है। इसमें बच्चों को तो खुशी होती है। हम बाप को भी और रचना के आदि मध्य अन्त को भी जान गये हैं। बाप की शिक्षा पाकर बहुत हर्षित होना चाहिए। तुम पढ़ते ही हो नई दुनिया के लिए। वहाँ है ही देवताओं का राज्य तो जरूर पुरूषोत्तम संगमयुग पर पढ़ना होता है। तुम इस दु:ख से छूटकर सुख में जाते हो। यहाँ तमोप्रधान होने कारण तुम बीमार आदि होते हो। यह सब रोग मिट जाने हैं। मुख्य है ही पढ़ाई, इनसे ट्रांस आदि का कनेक्शन नहीं है। यह बड़ी बात नहीं। बहुत जगह ऐसे ध्यान में चले जाते हैं फिर कहते मम्मा आई, बाबा आया। बाप कहते हैं यह कुछ भी नहीं है। बाप तो एक ही बात समझाते हैं – तुम जो आधाकल्प देह-अभिमानी बन पड़े हो, अब देही-अभिमानी बन बाप को याद करो तो विकर्म विनाश हों, इसको याद की यात्रा कहा जाता है। योग कहने से यात्रा नहीं सिद्ध होती। तुम आत्माओं को यहाँ से जाना है, तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। तुम अभी यात्रा कर रहे हो। उन्हों का जो योग है, उसमें यात्रा की बात नहीं। हठयोगी तो ढेर हैं। वह है हठयोग, यह है बाप को याद करना। बाप कहते हैं मीठे-मीठे बच्चों अपने को आत्मा समझो। ऐसे और कोई कभी नहीं समझायेंगे। यह तो है पढ़ाई। बाप का बच्चा बना फिर बाप से पढ़ना और पढ़ाना है। बाबा कहते हैं तुम म्युज़ियम खोलो, आपेही तुम्हारे पास आयेंगे। बुलाने की तकल़ीफ नहीं होगी। कहेंगे यह ज्ञान तो बड़ा अच्छा है, कभी सुना नहीं है। इसमें तो कैरेक्टर सुधरते हैं। मुख्य है ही पवित्रता, जिस पर ही हंगामें आदि होते हैं। बहुत फेल भी होते हैं। तुम्हारी अवस्था ऐसी हो जाती है जो इस दुनिया में होते हुए उनको देखते नहीं हैं। खाते-पीते भी तुम्हारी बुद्धि उस तरफ हो। जैसे बाप नया मकान बनाते हैं तो सबकी बुद्धि नये मकान तरफ चली जाती है ना। अभी नई दुनिया बन रही है। बेहद का बाप बेहद का घर बना रहे हैं। तुम जानते हो हम स्वर्गवासी बनने के लिए पुरूषार्थ कर रहे हैं। अब चक्र पूरा हुआ है। अब हमको घर और स्वर्ग में जाना है तो उसके लिए पावन भी जरूर बनना है। याद की यात्रा से पावन बनना है। याद में ही विघ्न पड़ते हैं, इसमें ही तुम्हारी लड़ाई है। पढ़ाई में लड़ाई की बात नहीं होती। पढ़ाई तो बिल्कुल सिम्पल है। 84 के चक्र की नॉलेज तो बहुत सहज है। बाकी अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो, इसमें है मेहनत। बाप कहते हैं याद की यात्रा भूलो मत। कम से कम 8 घण्टा तो जरूर याद करो। शरीर निर्वाह के लिए कर्म भी करना है। नींद भी करनी है। सहज मार्ग है ना। अगर कहें नींद न करो, तो यह हठयोग हो गया। हठयोगी तो बहुत हैं। बाप कहते हैं उस तरफ कुछ भी नहीं देखो, उससे कुछ फ़ायदा नहीं। कितने हठयोग आदि सिखलाते हैं। यह सब है मनुष्य मत। तुम आत्मायें हो, आत्मा ही शरीर ले पार्ट बजाती है, डॉक्टर आदि बनती है। परन्तु मनुष्य देह-अभिमानी बन पड़े हैं – मैं फलाना हूँ….।

अभी तुम्हारी बुद्धि में है – हम आत्मा हैं। बाप भी आत्मा है। इस समय तुम आत्माओं को परमपिता पढ़ाते हैं इसलिए गायन है – आत्मायें परमात्मा अलग रहे बहुकाल.. कल्प-कल्प मिलते हैं। बाकी जो भी सारी दुनिया है, वह सब देह-अभिमान में आकर देह समझकर ही पढ़ते पढ़ाते हैं। बाप कहते हैं मैं आत्माओं को पढ़ाता हूँ। जज, बैरिस्टर आदि भी आत्मा बनती है। तुम आत्मा सतोप्रधान पवित्र थी फिर तुम पार्ट बजाते-बजाते सब पतित बने हो तब पुकारते हो बाबा आकर हमको पावन आत्मा बनाओ। बाप तो है ही पावन। यह बात जब सुनें तब धारणा हो। तुम बच्चों को धारणा होती है तो तुम देवता बनते हो। और कोई की बुद्धि में बैठेगा नहीं क्योंकि यह है नई बात। यह है ज्ञान। वह है भक्ति। तुम भी भक्ति करते-करते देह-अभिमानी बन जाते हो। अब बाप कहते हैं – बच्चे, आत्म-अभिमानी बनो। हम आत्माओं को बाप इस शरीर द्वारा पढ़ाते हैं। घड़ी-घड़ी याद रखो यह एक ही समय है जब आत्माओं का बाप परमपिता पढ़ाते हैं। बाकी तो सारे ड्रामा में कभी पार्ट ही नहीं है, सिवाए इस संगमयुग के इसलिए बाप फिर भी कहते हैं मीठे-मीठे बच्चों अपने को आत्मा निश्चय करो, बाप को याद करो। यह बड़ी ऊंची यात्रा है – चढ़े तो चाखे वैकुण्ठ रस। विकार में गिरने से एकदम चकनाचूर हो जाते हैं। फिर भी स्वर्ग में तो आयेंगे, लेकिन पद बहुत कम होगा। यह राजाई स्थापन हो रही है। इसमें कम पद वाले भी चाहिए, सब थोड़ेही ज्ञान में चलते हैं। फिर तो बाबा को बहुत बच्चे मिलने चाहिए। अगर मिलते हैं तो भी थोड़े टाइम के लिए। तुम माताओं की बहुत महिमा है, वन्दे मातरम् भी गाया जाता है। जगत अम्बा का कितना बड़ा भारी मेला लगता है क्योंकि बहुत सर्विस की है। जो बहुत सर्विस करते हैं वह बड़ा राजा बनते हैं। देलवाड़ा मन्दिर में तुम्हारा ही यादगार है। तुम बच्चियों को तो बहुत टाइम निकालना चाहिए। तुम भोजन आदि बनाती हो तो बहुत शुद्ध भोजन याद में बैठ बनाना चाहिए, जो किसको खिलायें तो उनका भी हृदय शुद्ध हो जाये। ऐसे बहुत थोड़े हैं, जिनको ऐसा भोजन मिलता होगा। अपने से पूछो – हम शिवबाबा की याद में रहकर भोजन बनाते हैं, जो खाने से ही उनके हृदय पिघल जायें। घड़ी-घड़ी याद भूल जाती है। बाबा कहते हैं भूलना भी ड्रामा में नूंध है क्योंकि तुम 16 कला तो अभी बने नहीं हो। सम्पूर्ण बनना जरूर है। पूर्णिमा के चन्द्रमा में कितना तेज होता है, फिर कम होते-होते लकीर जाकर रहती है। घोर अन्धियारा हो जाता है फिर घोर सोझरा। यह विकार आदि छोड़ बाप को याद करते रहेंगे तो तुम्हारी आत्मा सम्पूर्ण बन जायेगी। तुम चाहते हो महाराजा बनें परन्तु सब तो बन न सकें। पुरूषार्थ सबको करना है। कोई तो कुछ पुरूषार्थ नहीं करते इसलिए महारथी, घोड़ेसवार, प्यादे कहा जाता है। महारथी थोड़े होते हैं। प्रजा वा लश्कर जितना होता है, उतने कमान्डर्स वा मेजर्स नहीं होते हैं। तुम्हारे में भी कमान्डर्स, मेजर्स, कैप्टन हैं। प्यादे भी हैं। तुम्हारी भी यह रूहानी सेना है ना। सारा मदार है याद की यात्रा पर। उनसे ही बल मिलेगा। तुम हो गुप्त वारियर्स। बाप को याद करने से विकर्मों का जो किचड़ा है वह भस्म हो जाता है। बाप कहते हैं धन्धाधोरी भल करो। बाप को याद करो। तुम जन्म-जन्मान्तर के आशिक हो, एक माशूक के। अब वह माशूक मिला है तो उनको याद करना है। आगे भल याद करते थे परन्तु विकर्म विनाश थोड़ेही होते थे। बाप ने बताया है तुमको यहाँ तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। आत्मा को ही बनना है। आत्मा ही मेहनत कर रही है। इसी जन्म में तुम्हें जन्म-जन्मान्तर की मैल को उतारना है। यह है मृत्युलोक का अन्तिम जन्म फिर जाना है अमरलोक। आत्मा पावन बनने बिगर तो जा नहीं सकती। सबको अपना-अपना हिसाब-किताब चुक्तू करके जाना है। अगर सजायें खाकर जायेंगे तो पद कम हो जायेगा। जो सज़ा नहीं खाते हैं वह सिर्फ माला के 8 दाने कहे जाते हैं। 9 रत्नों की ही अंगूठी आदि बनती है। ऐसा बनना है तो बाप को याद करने की बहुत मेहनत करनी है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) संगमयुग पर स्वयं को ट्रांसफर करना है। पढ़ाई और पवित्रता की धारणा से अपने कैरेक्टर सुधारने हैं, ट्रांस आदि का शौक नहीं रखना है।

2) शरीर निर्वाह अर्थ कर्म भी करना है, नींद भी करनी है, हठयोग नहीं है, लेकिन याद की यात्रा को कभी भूलना नहीं है। योगयुक्त होकर ऐसा शुद्ध भोजन बनाओ और खिलाओ जो खाने वाले का हृदय शुद्ध हो जाये।

वरदान:- कोई भी सेवा सच्चे मन से वा लगन से करने वाले सच्चे रूहानी सेवाधारी भव
सेवा कोई भी हो लेकिन वह सच्चे मन से, लगन से की जाए तो उसकी 100 मार्क्स मिलती हैं। सेवा में चिड़चिड़ापन न हो, सेवा काम उतारने के लिए न की जाए। आपकी सेवा है ही बिगड़ी को बनाना, सबको सुख देना, आत्माओं को योग्य और योगी बनाना, अपकारियों पर उपकार करना, समय पर हर एक को साथ वा सहयोग देना, ऐसी सेवा करने वाले ही सच्चे रूहानी सेवाधारी हैं।
स्लोगन:- अपने सम्पूर्ण स्वरूप का आह्वान करो तो स्थिति आवागमन से छूट जायेगी।

TODAY MURLI 29 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 June 2018 :- Click Here

29/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the sweetest Father has come to make you sweet. You have to become as sweet as the deities and make others sweet.
Question: Which children receive the blessing of remaining constantly happy?
Answer: Those who value the jewels of knowledge. Each jewel is one that makes you a multimillionaire. You children have to imbibe these jewels and become rup and basant. If only jewels constantly continue to emerge from your lips, you can become constantly happy. The Father is pleased to see the children who become sweet and He gives them the blessing of remaining constantly happy. You children become ever wealthy and everhealthy through this blessing.
Song: You have come into my heart. 

Om shanti. This is such a sweet song. Although the film industry composed this song, they don’t know anything. You sweet children are playing part s in this unlimited play. The unlimited Father is now playing a part in the unlimited drama, personally in front of you. You children only see sweet Baba in front of you. Souls see one another with their eyes (organs of the body). The souls that are sitting personally in front and for whom Baba says: “Sweet children” also know that. Baba says: I have come to make all the children very sweet. Maya has made you very bitter. Only the Father comes and explains this. You used to be so sweet. When you go to the temples, you consider the deities to be so sweet. You look at the deities with such sweet vision. You wait in anticipation for the temple to open so that you can have a sight of the sweet deities. Although they are made of stone, you understand that they were sweet when they existed. You go to the Shiva Temple. He is the sweetest. He definitely also existed in the past. The sweetest of all, the sweetest Father of all, must definitely have come in Bharat. All those who are in the temples existed in the past. They must definitely have done something when they existed. It would only be the children who know the sweetest Father. Therefore, it would definitely be said that the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is the sweetest of all. There is a lot of praise of Shiv Baba in Bharat in particular and the whole world in general. Many say: Shiva Kashi Vishwanath Ganga (Shiva, the One who resided at Kashi, the Lord of the World who brought the Ganges). They even go and reside there. This Baba has also gone around everywhere. People praise Shiva so much. The Father knows that all of you are sweet children. You are children of the family. Each one of you receives your part , numberwise. However, everyone’s vision would go to the hero and heroine. They sing: “You are the mother and father” to those who are the hero and heroine in this drama . You children know that you are sitting personally in front of that mother and father. You are not in front of the world. This is incognito. They have completely lost all name and trace of this one. They just have the image, but you can’t tell anything from that. There are many worshippers of Shiva, but they don’t have the full introduction. You know that Shiv Baba is the sweetest and that no one can be as sweet as He is. If that sweetest Father didn’t come, how would this impure world become pure? At this time, no one except you children are sweet. They say “Shivohum” (I am God). However, God is the sweetest. He is the Resident of the supreme abode. How can you say “Shivohum” (I am God) in this impure world? God is the Creator and the Purifier. All devotees remember God. It isn’t that all devotees are God. Only incorporeal Shiva is said to be the sweetest. You will go to sweetest heaven through sweetest Baba. A dynasty is being created. Sweetest Baba is making us most beloved and sweet. Whatever someone is like, he will make others the same as himself. He says: I am incorporeal. You souls are also incorporeal. A Shivalingam is worshipped in the Shiva Temple. When they create a sacrificial fire, they create saligrams and Shiva. They then worship those. Big merchants create sacrificial fires. They make a lingam of Rudra Shiva and also make saligrams. Brahmin priests carry out the worship. Now, you Brahmins were worthy of worship and then became worshippers. They make a big lingam of Shiva and small saligrams and worship those. That is called the sacrificial fire of Rudra. So, that is worshipping clay. They make idols etc. of clay as a memorial. The worshippers then sit and worship them. Bharat was worthy of worship. There was no worshipping in the golden and silver ages. For half the cycle there is knowledge and for half the cycle there is devotion. It is remembered: You are worthy of worship and you are a worshipper. Then, they say: All are God. They believe that God was worthy of worship and that God became a worshipper. That is called the Ganges flowing backwards. Everyone calls out to the Father: Oh God! Oh Purifier! Oh Merciful One! To call out means to invoke. For half the cycle on the path of devotion, devotees make invocations. In heaven, you will be the masters. The Father says: I am making you the sweetestGod, the Father, is so sweet, so lovely. Shiva is the Innocent Lord. They would not even mention the name of Shankar. Shiva is incorporeal and Shankar is subtle and so saying that both of them are one and the same is wrong. When human beings go to anyone’s temple, they only worship the incorporeal One. They have mixed everyone up. They sing praise of Rama and Narayan. There is a vast difference between Rama and Narayan. They have put all of them together. No one knows who Vyas was. In fact, you are the true Vyas, the children of Sukhdev. Baba sits here and gives you the knowledge of easy yoga and tells us that we are the true Vyas, the children of Sukhdev. We are Brahmins. He sits here and teaches us easy Raja Yoga in a practical way through which we change from human beings into deities. They go in front of the deities and sing: “We are sinners, degraded and bitter”. They are very sweet. This Lakshmi and Narayan have taken 84 births. The same applies to you. Only you receive this knowledge. Lakshmi and Narayan will not have this knowledgethere. There, we don’t make anyone into deities through this knowledge. So, what will we do there? Here, you are so useful. We are now the children of sweetest Baba. We will then become Shri Lakshmi and Narayan. You know that we are becoming the sweetest through the sweetest Father. Shiv Baba is Shri Shri, the sweetest of all. We also become sweet through Him. We cannot call ourselves Shri Shri. This is something to be understood. To the extent that you become bodiless and soul conscious and remember the sweet Father, to that extent you will become sweet. Become soul conscious and remember the Father and the inheritance. Don’t forget this main thing. If you remember Me, you will become as sweet as I am. So, how much should you remember such a Father who makes you like this! It is as though Baba is a mountain of sweetness. It is said: Receive happiness by remembering Him. This is not a rosary of which you have to turn the beads. You don’t have to turn the beads of a rosary. You simply have to remember Me. No one knows in whose memory the rosary is created. They simply continue to say, “Rama, Rama!” and turn the beads of a rosary. You now understand that you are the children of Rama, Shiv Baba, and that this is why we remember Him. To turn the beads of a rosary is a sign of being a worshipper. We remember Baba a great deal. We become ever healthy and free from disease by having remembrance. Baba repeatedly tells you: Consider yourself to be bodiless and remember Me and your boat will go across. There aren’t any human beings with 10 or 20 arms or an elephant’s trunk, nor can deities be born by someone sneezing. When you hear all of those things now, you wonder what all of that is. All of that is the paraphernalia of the path of devotion. In the golden age, none of those things will exist. Devotion lasts for half the cycle. Knowledge doesn’t last for half the cycle. Only the reward of knowledge lasts for half the cycle. You receive the inheritance for 21 births through knowledge, just as you receive the inheritance of devotion. Devotion is at first satopradhan and it then goes through the stages of sato, rajo and tamo. That too is like an inheritance you receive from the Father. So, first of all, you are satopradhan, and then you go through the stages of sato, rajo and tamo. The inheritance of knowledge is also satopradhan, sato, rajo and tamo. These things have to be understood. First of all, you souls have to understand that you are children of the most beloved Father. The Father has entered this body. How could He speak the murli without a body? The incorporeal world is the silence world. Then there is the ‘movie  (subtle region) and then this is the ‘talkie . There are the three worlds. You listen to everything new. No one else in the world can know this. You souls know that you come from the silence world. That place is called Brahmand because we are residents of that place. Souls reside there in an egg-shaped form. However, they are not like that. If you say that He is a s tar, how could a star be worshipped? How could you place fruit, flowers or milk on it? The name “Shiva” is fine. It isn’t that because He is the Father, He is big and we souls are small. “Supreme” means the Soul that resides in the supreme abode and is the most beloved. You know that you now have to follow the Father’s shrimat. Baba, the sweetest of the sweet, comes and makes us most sweet. When a soul becomes sweet, he receives a sweet body. The Father says: Simply remember the Seed and the tree. The Father, the Seed, is up above. He is the Seed of the tree. This is the foundation. Other twigs and branches emerge from this. This isn’t in the intellect of anyone in the whole world. Baba says: Beloved children, the incorporeal Father is speaking through this body. You listen with those ears. It is souls that imbibe. When the Sun of Knowledge rises, the darkness of ignorance is dispelled. There is the dark night. Human beings think that it will get darker still. However, this is extreme darkness. Human beings don’t know this. You now know the Creator and the beginning, the middle and the end of creation, whereas sannyasis say that He is infinite. God, Your ways and means are unique! You understand that God Himself comes and grants liberation and salvation. You know that you will become Narayan from an ordinary man and Lakshmi from an ordinary woman by following shrimat. The intoxication is so great! There is one aim and objective. You might become a barrister, but you would become that, numberwise. This is why you have to follow the mother and father. You know that the mother and father make effort and claim number one, and so you should also make effort. You also become just as sweet. Children gain the throne of their parents. When the children have grown up and become seniors, the parents come down. That is like you gaining the throne of your parents. You children have to become very lovely and very sweet. Only jewels should always emerge from your lips. You are rup and basant. They sat and made up a story. These are jewels of knowledge. Baba knows the jewellery business very well. The jewellery business is considered to be the highest of all. These are jewels of knowledge. Each jewel is imbibed. Through these, you become multimillionaires countless times over. Your palaces will be built of golden bricks and studded with diamonds and jewels. You will remain very happy there. You will become ever healthy and ever wealthy. It is as though Baba is giving you a blessing. The sweeter you become, the happier the Father will be. In a schoolteachers know the students. That One is the unlimited Father, Teacher and Satguru. You children are now sitting in front of Baba and so the murli that emerges is likewise. However, Baba doesn’t let knowledgeable souls remain here. He says: Go outside and serve to change human beings into deities. Make those who have become the most bitter and most diseased free from disease. The average lifespan now is 40 to 45 years. The lifespan of a yogi soul is very long. Krishna is called a great soul, Yogeshwar. When it was his kingdom, the average lifespan was 150 years. Now people have become diseased. There is an account, but people don’t know this. The vessel of the intellect that was golden has reached this condition because it is filled with poison. Baba is now pouring the nectar of knowledge into it and making it golden. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become the sweetest like the Father. Never let bitter words emerge from your lips. Always speak sweetly.
  2. Understand the value of the invaluable jewels of knowledge that the Father gives us and imbibe them very well.
Blessing: May you grant a vision of your blissful life with your balance and become worthy of receiving everyone’s blessings.
Balance is the greatest art. When you have a balance of remembrance and service, you will continue to receive the Father’s blessings. With a balancein every aspect, you will easily become number one. It is your balance that will grant many souls a vision of your blissful life. While keeping a balancein your awareness at all times, continue to experience all attainments and you yourself will continue to move forward and also enable all souls to move forward.
Slogan: A mahavir is one who makes all difficulties easy and turns a mountain into a mustard seed (rai) or cotton wool (rui).

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 29 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 June 2018

To Read Murli 28 June 2018 :- Click Here
29-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – स्वीटेस्ट बाप आया है, स्वीट बनाने, तुम्हें देवताओं समान स्वीट बनना और बनाना है
प्रश्नः- सदा सुखी बनने का वरदान किन बच्चों को प्राप्त होता है?
उत्तर:- जिन्हें ज्ञान रत्नों की वैल्यू है। एक-एक रत्न पद्मपति बनाने वाला है। तुम बच्चे इन रत्नों को धारण कर रूप बसन्त बनो। मुख से सदैव रत्न निकलते रहें तो सदा सुखी बन जायेंगे। जो बच्चे मीठा बनते हैं, उन्हें बाप भी देखकर खुश होते हैं और सदा सुखी बनने का वरदान देते हैं। तुम बच्चे इसी वरदान से एवरहेल्दी, एवरवेल्दी बन जाते हो।
गीत:- आ गये दिल में तू … 

ओम् शान्ति। कितना मीठा गीत है। भल बनाया फिल्म वालों ने है, परन्तु वे तो कुछ भी जानते नहीं। तुम मीठे बच्चे इस बेहद के नाटक में पार्ट बजा रहे हो। बेहद के ड्रामा में बेहद का बाप भी अब पार्ट बजा रहे हैं सम्मुख। तुम बच्चों को स्वीट बाबा ही नज़र आता है। आत्मा इन नयनों से (शरीर के आरगन्स से) एक-दो को देखती है। आत्मा भी जो सम्मुख बैठी है, वह जानती है, जिसके लिए बाबा कहते हैं स्वीट चिल्ड्रेन। बाबा कहते हैं मैं सब बच्चों को बहुत स्वीट बनाने आया हूँ। माया ने तुमको बहुत कड़ुआ बना दिया है। यह बाप ही आकर समझाते हैं, तुम कितने स्वीट थे। बरोबर तुम जब मन्दिरों में जाते हो तो देवताओं को कितना स्वीट समझते हो। देवताओं को कितनी मीठी नज़र से देखते हो। कहाँ मन्दिर खुले तो स्वीट देवताओं का दर्शन करें। बनावट तो भल पत्थर की है, परन्तु समझते हैं यह स्वीट होकर गये हैं। शिव के मन्दिर में जाते हैं, वो भी बहुत स्वीटेस्ट हैं। जरूर होकर गये हैं। स्वीटेस्ट ते स्वीटेस्ट, मीठे से मीठा बाप जरूर भारत में ही आया होगा। मन्दिरों में जो भी हैं वो सब होकर गये हैं। जरूर कुछ करके गये हैं। स्वीटेस्ट बाप को जानने वाले बच्चे ही होंगे। तो जरूर कहेंगे निराकार परमपिता परमात्मा सबसे स्वीटेस्ट है।

भारत में खास, दुनिया में आम शिवबाबा की महिमा तो बहुत है। शिव काशी विश्व नाथ गंगा – ऐसे बहुत कहते हैं। वहाँ जाकर रहते भी हैं। यह बाबा भी सब तरफ चक्र लगाकर आये हैं। मनुष्य शिव की कितनी महिमा करते हैं! बाप जानते हैं यह सब स्वीट चिल्ड्रेन हैं। घर के बच्चे हैं। सबको नम्बरवार अपना पार्ट मिलता है, परन्तु सबकी नज़र हीरो-हीरोइन पर ही जायेगी। अब इस ड्रामा में जो हीरो-हीरोइन हैं उन्हों के लिए गाते हैं तुम मात-पिता….। अभी तुम बच्चे जानते हो उस मात-पिता के सम्मुख बैठे हैं। दुनिया के सम्मुख तो नहीं हैं। यह है गुप्त। इनका नाम-निशान बिल्कुल ही गुम कर दिया है। सिर्फ चित्र हैं परन्तु उनसे कोई पता नहीं पड़ता। शिव के पुजारी तो बहुत होते हैं। लेकिन पूरा परिचय नहीं है। तुम जानते हो शिवबाबा है स्वीटेस्ट, उन जैसा स्वीट कोई हो नहीं सकता। वह स्वीटेस्ट बाप न आये तो यह पतित दुनिया पावन कैसे बनें। इस समय तुम बच्चों के सिवाए कोई भी स्वीट नहीं है। भल अपने को शिवोहम्, भगवान कहते रहते हैं। लेकिन भगवान तो इतना स्वीटेस्ट है, वह तो परमधाम में रहने वाला है, तुम फिर इस पतित दुनिया में कैसे कहते हो – शिवोहम्, हम भगवान हैं! भगवान तो रचयिता, पतित-पावन है। भगवान को सभी भक्त याद करते हैं। ऐसे नहीं, सब भक्त भगवान हैं। निराकार शिव को ही स्वीटेस्ट कहेंगे। स्वीटेस्ट बाबा द्वारा ही स्वीटेस्ट स्वर्ग में जायेंगे। यह डिनायस्टी रची जा रही है। स्वीटेस्ट बाबा हमको मोस्ट बिलवेड स्वीट बना रहे हैं। जो जैसा होगा ऐसा बनायेगा ना। कहते हैं मैं निराकार हूँ। तुम आत्मायें भी निराकार हो। शिव के मन्दिर में शिवलिंग की पूजा होती है ना। यज्ञ रचते तो सालिग्राम और शिव बनाते हैं। उनकी पूजा करते हैं। बहुत बड़े-बड़े सेठ लोग यज्ञ रचते हैं। रुद्र शिव का भी लिंग बनाते हैं और सालिग्राम भी बनाते हैं। ब्राह्मण लोग पूजा करते हैं। तुम ब्राह्मण ही पूज्य थे फिर पुजारी बने हो। शिव का लिंग बड़ा, सालिग्राम छोटा बनाकर पूजा करते हैं। उसका नाम ही है रुद्र यज्ञ। तो यह हो गई मिट्टी की पूजा। बुत आदि मिट्टी के बनाते हैं यादगार के लिए। फिर पुजारी बैठ पूजा करते हैं। भारत पूज्य था। सतयुग-त्रेता में पुजारीपन नहीं था। आधा कल्प है ज्ञान, आधा कल्प है भक्ति। गाया भी जाता है आप-ही पूज्य और आप-ही पुजारी। फिर कहते हैं सब भगवान हैं। समझते हैं भगवान ही पूज्य था, भगवान ही पुजारी बनता है, इसको उल्टी गंगा कहा जाता है। बाप को तो सब बुलाते हैं – हे भगवान, हे पतित-पावन, हे रहमदिल, पुकारना माना आह्वान करना। भक्ति मार्ग में आधा कल्प भक्त लोग आह्वान करते हैं। स्वर्ग में तो तुम मालिक होंगे। बाप कहते हैं तुमको बहुत स्वीटेस्ट बना रहा हूँ। गॉड फादर कितना मीठा, कितना प्यारा शिव भोला भगवान है। शंकर का तो नाम ही नहीं डालेंगे। शिव निराकार, शंकर आकारी – दोनों को मिलाना तो ग़लत है ना। मनुष्य कोई के भी मन्दिर में जायेंगे तो पूजा एक ही निराकार की करेंगे। सबको मिला देते हैं। अचतम् केशवम्, श्री राम नारायणम्…. अब राम कहाँ, नारायण कहाँ। सबको इकट्ठा कर दिया है।

व्यास कौन था – यह कोई भी नहीं जानते। वास्तव में सच्चे व्यास सुखदेव के तुम बच्चे हो। बाबा बैठ सहज योग की नॉलेज सुनाते हैं और उस सुखदेव के हम बच्चे हैं सच्चे-सच्चे व्यास। हम ब्राह्मण हैं। हमको प्रैक्टिकल में बैठ सहज राजयोग सिखलाते हैं, जिससे हम मनुष्य से देवता बनते हैं। देवताओं के आगे जाकर गाते हैं हम पापी, नीच, कड़ुवे हैं। वह तो बहुत मीठे हैं ना। इन लक्ष्मी-नारायण ने ही 84 जन्म लिए हैं। ततत्वम्। यह नॉलेज तुमको ही मिलती है। लक्ष्मी-नारायण में वहाँ यह नॉलेज नहीं होगी। हम वहाँ यह नॉलेज देकर किसी को देवता नहीं बनाते हैं। तो बाकी क्या काम करें? यहाँ तो कितने काम हैं। अभी हम स्वीटेस्ट बाबा के बच्चे हैं, फिर श्री लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। तुम जानते हो हम स्वीटेस्ट फादर से स्वीटेस्ट बनते हैं। शिवबाबा है श्री श्री मीठे ते मीठा। उनसे हम भी मीठे बनते हैं। हम अपने को श्री श्री नहीं कह सकते। यह समझने की बातें हैं। तुम जितना अशरीरी, देही-अभिमानी बनेंगे और मीठे बाप को याद करेंगे उतना मीठा बनेंगे। देही-अभिमानी बन बाप और वर्से को याद करना है। यह एक मुख्य बात न भूलो। मुझे याद करेंगे तो मेरे जैसा मीठा बन जायेंगे। तो ऐसा बनाने वाले बाप को कितना याद करना चाहिए। बाबा मिठास का तो जैसे एक पहाड़ है। कहते हैं ना – सिमर-सिमर सुख पाओ। कोई सिमरणी नहीं सिमरनी है। माला नहीं फेरनी है। सिर्फ याद करना है। कोई को भी यह पता नहीं है कि यह माला किसकी याद में बनी हुई है। सिर्फ राम-राम करते रहते, माला फेरते रहते हैं। अभी तुम समझते हो राम शिव बाबा के हम बच्चे हैं इसलिए सिमरण करते हो। माला फेरना तो पुजारीपन का चिन्ह है। हम बाबा को बहुत याद करते हैं। याद से ही हम एवरहेल्दी, निरोगी बन जाते हैं। बाबा बार-बार कहते हैं अपने को अशरीरी समझ मुझे याद करो तो बेड़ा पार है। बाकी कोई 10-20 भुजा या सूंढ़ वाला मनुष्य नहीं होता। न कोई छींकने से देवता निकल आयेंगे। यह बातें अब सुनते हैं तो समझते हैं यह सब क्या है! यह सब है भक्तिमार्ग की सामग्री। सतयुग में यह कुछ भी होगी नहीं। भक्ति आधा कल्प चलती है। ज्ञान कोई आधा कल्प नहीं चलता है। ज्ञान की प्रालब्ध आधा कल्प चलती है। ज्ञान से 21 जन्म का वर्सा मिलता है। तो जैसे वह भक्ति का वर्सा मिलता है। भक्ति पहले सतोप्रधान थी। फिर सतो, रजो, तमो हो जाती है। जैसे यह भी बाप से वर्सा मिलता है। तो फिर पहले सतोप्रधान, फिर सतो, रजो, तमो में आते हैं। ज्ञान का वर्सा भी सतोप्रधान, सतो, रजो, तमो होता है। यह समझने की बातें हैं। पहले तो समझना है – हम आत्मा मोस्ट बिलवेड बाप के बच्चे हैं। बाप इस जिस्म में आये हैं। जिस्म बिगर मुरली कैसे सुना सकेंगे। निराकारी दुनिया तो है साइलेन्स वर्ल्ड फिर है मूवी, यह टाकी। तीन लोक हैं ना। एक-एक बात तुम नई सुनते हो। दुनिया में और कोई जान न सके। तुम जानते हो हम आत्मायें साइलेन्स वर्ल्ड से आती हैं। वहाँ की रहवासी हैं, इसलिए उनका नाम ब्रह्माण्ड रखा हुआ है। अण्डे मिसल आत्मायें रहती हैं। परन्तु ऐसे है थोड़ेही। अगर स्टार कहें तो स्टार की पूजा कैसे हो! फल, फूल, दूध आदि उन पर कैसे ठहर सके। नाम तो शिव ठीक है। ऐसे नहीं कि वह बाप बड़ा, हम आत्मायें छोटी हैं। परम माना परमधाम की रहने वाली आत्मा जो मोस्ट बिलवेड है।

तुम जानते हो अब हमको बाबा की श्रीमत पर चलना है। बहुत मीठे ते मीठा बाबा आकर हमको मोस्ट स्वीट बनाते हैं। आत्मा स्वीट बनेंगी तो शरीर भी स्वीट मिलेगा। बाप कहते हैं सिर्फ बीज और झाड़ को याद करो। बीज बाप ऊपर में है। वह है वृक्षपति। यह है फाउण्डेशन। फिर इनसे और टाल टालियाँ निकलती हैं। दुनिया में कोई की बुद्धि में यह नहीं है। बाबा कहते हैं – लाडले बच्चे, निराकार बाप इस शरीर द्वारा बोलते हैं। तुम इन कानों से सुनते हो। आत्मा ही धारण करती है। ज्ञान सूर्य प्रगटा, अज्ञान अंधेर विनाश। अंधियारी रात होती है ना। मनुष्य समझते हैं इससे भी अजुन अंधियारा होगा। यह है ही घोर अंधियारा। मनुष्य यह नहीं जानते। अभी तुम रचयिता और रचना के आदि, मध्य, अन्त को जान गये हो। जिसके लिए सन्यासी कहते हैं बेअन्त है। ईश्वर तुम्हारी गत मत न्यारी है। तुम तो समझते हो ईश्वर ही आकर गति सद्गति करते हैं। तुम जानते हो श्रीमत से हम सो नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनेंगे। कितना भारी नशा है! एम ऑब्जेक्ट तो एक होती है ना। बैरिस्टर बनेंगे, परन्तु नम्बरवार तो बनेंगे ना इसलिए फालो फादर मदर। जानते हो मदर फादर पुरुषार्थ कर नम्बरवन में जाते हैं तो हम भी पुरुषार्थ करें। हम भी इतना स्वीटेस्ट बनें। बच्चे माँ-बाप के तख्त पर जीत पाते हैं ना। वह बड़े हो जायेंगे तो मात-पिता नीचे उतरेंगे। तो जैसे तुम मात-पिता के तख्त पर जीत पाते हो।

तुम बच्चों को बहुत प्यारा, बहुत मीठा बनना है। तुम्हारे मुख से सदैव रत्न निकलने चाहिए। रूप बसन्त तुम हो। उन्होंने तो एक कहानी बैठ बनाई है। यह है ज्ञान रत्न। जवाहरात को तो बाबा अच्छी रीति जानते हैं। सबसे ऊंच जवाहरात का धन्धा गिना जाता है। यह भी ज्ञान रत्न हैं। एक-एक रत्न की धारणा होती है। इससे तुम अनगिनत पदमपति बनते हो। तुम्हारे महलों में कैसे सोने की ईटें, हीरे जवाहरात लगते हैं! बड़े सुखी रहेंगे। एवर हेल्दी, एवर वेल्दी बनेंगे। यह जैसे बाबा वरदान देते हैं। जितना मीठा बनेंगे, उतना बाप खुश होगा। स्कूल में टीचर स्टूडेण्ट को जानते हैं ना। यह तो बेहद का बाप-टीचर-सतगुरू है। अभी तुम बच्चे सामने बैठे हो तो मुरली भी ऐसी निकलती है। परन्तु फिर ज्ञानी तू आत्मा को बाबा यहाँ रहने नहीं देते। कहते हैं – जाओ, जाकर मनुष्य से देवता बनाने की सेवा करो। जो कड़ुवे ते कड़ुवे, प्लेगी बहुत रोगी हो गये हैं, उनको निरोगी बनाओ। अभी तो एवरेज आयु 40-45 वर्ष होगी। योगी की आयु बहुत बड़ी होती है। कृष्ण को महात्मा, योगेश्वर कहते हैं। उनका जब राज्य था तब एव-रेज आयु 150 वर्ष थी। अब रोगी बन गये हैं। हिसाब तो है ना। परन्तु मनुष्य जानते नहीं। बुद्धि रूपी बर्तन जो सोने का था, उसमें विष (जहर) भरने से यह हाल हो गया है। अब बाबा ज्ञान अमृत डाल सोने का बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप समान स्वीटेस्ट बनना है। मुख से कभी कड़ुवे वचन नहीं निकालने हैं, सदैव मीठा बोलना है।

2) बाप हमको जो अमूल्य ज्ञान रत्न दे रहे हैं, उनकी वैल्यू को समझ अच्छी रीति धारण करना है।

वरदान:- बैलेन्स द्वारा ब्लिसफुल जीवन का साक्षात्कार कराने वाले सर्व की ब्लैसिंग के पात्र भव
बैलेन्स सबसे बड़ी कला है। याद और सेवा का बैलेन्स हो तो बाप की ब्लैसिंग मिलती रहेगी। हर बात के बैलेन्स से सहज ही नम्बरवन बन जायेंगे। बैलेन्स ही अनेक आत्माओं के आगे ब्लिसफुल जीवन का साक्षात्कार करायेगा। बैलेन्स को सदा स्मृति में रखते हुए सर्व प्राप्तियों का अनुभव करते रहो तो स्वयं भी आगे बढ़ते रहेंगे और अन्य आत्माओं को भी आगे बढ़ायेंगे।
स्लोगन:- महावीर वह है जो हर मुश्किल को सहज कर, पहाड़ को राई व रुई बना दे।
Font Resize