29 january ki murli

TODAY MURLI 29 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

29/01/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Prajapita Brahma is the great-great-grandfather, that is, he is the first father of all the religions. Only you children know his occupation.
Question: What is the way to make your actions elevated?
Answer: Do not hide from the Father any actions you have performed in this birth. Perform every action according to shrimat and every action will then become elevated. Everything depends on actions. If someone performs a sinful action and hides it, one hundred-fold punishment is received and that sin continues to increase. Yoga with the Father is then broken. Those who hide their sins in this way totally destroy all the truth within them. This is why you have to be honest with the true Father.

Om shanti. You sweetest beloved, long-lost and now-found children understand that you are now travellers in this old world for only a few more days. People of the world think that they will continue to live in this world for another 40,000 years. You children have faith. Don’t forget these things. While sitting here, you children should feel bubbles of happiness inside you. Whatever you can see with your eyes, it is going to be destroyed. Souls are imperishable. It is in your intellects that you are souls and that you have taken the full 84 births. The Father has now come to take you back home. When the old world comes to an end, the Father comes to make the world new. The new world becomes old and then the old world becomes new. You have the knowledge of this cycle in your intellects. You have been around this cycle many times. This cycle is now coming to an end. Then, in the new world, only you few deities will remain. There won’t be ordinary human beings there. You are now changing from ordinary human beings into deities. You have this firm faith. Everything depends on actions. When human beings perform wrong actions, their consciences definitely bite them. This is why the Father asks: You haven’t performed any such actions in this birth, have you? This world is the dirty kingdom of Ravan. Only you understand this. No one in the world knows what Ravan is. Bapuji (Gandhiji) used to say that he wanted to bring about the kingdom of Rama, but no one understood the meaning of that. The unlimited Father now explains to you what the kingdom of Rama is like. This is the world of those with blurred vision. The unlimited Father is now giving you children your inheritance. You no longer perform devotion. You have now taken hold of the Father’s hand. Without the support of the Father, you were floundering in the river of poison. For half the cycle, there is devotion. After receiving knowledge, you go to the new world of the golden age. You children now have the faith that you will become pure by remembering Baba. You will then go into the pure kingdom. It is only now, at the most elevated confluence age, that you receive this knowledge. This is the most elevated confluence age when you become beautiful from dirty, when you are changed from thorns into flowers. Who is making you this? The Father. We know that the Father is the unlimited Father of us souls. A worldly father cannot be called the unlimited Father. In relation to souls, the parlokik Father is the Father of everyone. Then the occupation of Brahma is also needed. You children now know everyone’s occupation. You also know the occupation of Vishnu; he is decorated so much. He is the master of heaven. This one is said to belong to the confluence age. There is the incorporeal world, the subtle region and the corporeal world. They only exist at the confluence age. The Father explains that this is the confluence of the old world and the new world. People call out: O Purifier come! The new world is the pure world and the old world is the impure world. You know that the unlimited Father also has a part to play. He is the Creator and Director. Everyone believes this, and so He would surely have some activity, would He not? He is not called a human being; He doesn’t have a body. All others are either called deities or human beings. Shiv Baba can neither be called a deity nor a human being because He doesn’t have a body; He has borrowed this body temporarily. He Himself says: Sweetest children, how could I teach you sweet children Raj Yoga without a body? Human beings have said that I am in the pebbles and stones, but you children now understand how I come. You are now studying Raj Yoga. No human being can teach this. How did the deities claim the golden-aged kingdom? They must definitely have studied Raj Yoga at the confluence age. So, by churning this, you children should experience a great deal of happiness. We have now completed the cycle of 84 births. The Father comes every cycle. The Father Himself says: This is the last of many births. Shri Krishna, who is the prince of the golden age, goes around the cycle of 84 births. You wouldn’t show 84 births of Shiva. Among you also, you understand everything numberwise according to your efforts. Maya is very strong; she doesn’t leave anyone alone. The Father knows this very well. Don’t think that the Father is Antaryami (One who knows what is within everyone); no! He knows everyone from their activity. He receives news when Maya completely swallows them raw. There are many such things of which you children are not aware. The Father knows everything and so people believe that Baba is Antaryami. The Father says: I am not Antaryami. Everyone is known from their behaviour. The behaviour of some is very dirty. The Father cautions you children: Be wary of Maya! Maya is such that she can completely swallow you in one way or another. Nevertheless, although the Father explains to them, it doesn’t sit in their intellects. This is why you children must remain very cautious. Lust is the greatest enemy. You don’t even know when you are falling into vice. There are such children; therefore, the Father says: If you have made a mistake, tell the Father about it honestly. Don’t hide it. Otherwise, there will be one hundredfold sin accumulated and your conscience will continue to bite you inside and you will fall right down. You have to be completely honest with the true Father. Otherwise, there will be a great loss. Maya is very severe at this time. This is Ravan’s world. Why should we remember this old world? We must remember the new world where we are now going. When a father is having a new home built, his children are happy because they understand that a new home is being built for them. Here, it is an unlimited aspect. The new world of heaven is being created for us. There will definitely be homes in heaven for us to live in. We are now going to go to the new world. The more you remember the Father, the more you will become beautiful flowers. We became thorns under the influence of the vices. The Father knows that Maya completely eats up half of the children here. You also understand that those who no longer come are now under Maya’s control; they don’t even come to the Father. Maya swallows many in this way. Many leave here, saying: This is very good, this is very good. I will do this and that. I am ready to give my life to the yagya. However, they are no longer here today. Your war is against Maya. No one in the world knows how there can be a war against Maya. The Father has now given each of you children a third eye of knowledge with which you have come out of the dark and into the light. Only souls are given this eye of knowledge and this is why the Father says: Consider yourselves to be souls. Remember the unlimited Father! You used to remember Him on the path of devotion. You used to say: When You come, I will sacrifice myself to You. You didn’t understand how you would sacrifice yourself to Him. You now understand that, just as you are souls, so the Father is also a soul. The Father’s birth is alokik (subtle). He teaches you children so well. You yourselves say: This is the same Father who becomes our Father every cycle. We say: Baba, Baba! The Father says: Children, children! As the Teacher, He teaches us Raj Yoga. No one else can teach Raj Yoga. He makes you into the masters of the world. Therefore, you have to belong to such a Father and take teachings from such a Teacher. You should bubble up inside with happiness. If someone becomes dirty, there can’t be that happiness. No matter how much you beat your head over some, it is as though they are not those who belong to your caste. Here, human beings have so many surnames! Look how great your surname is! This one is the greatest of all: great-great-grandfather Brahma. No one knows him. Not only have they said that Shiv Baba is omnipresent, but no one even understands anything about Brahma. There are the pictures of Brahma, Vishnu and Shankar. Brahma has been portrayed in the subtle region; they don’t understand his biography at all! They show Brahma in the subtle region. So, where would Brahma, the Father of People, come from? Would he adopt children there? No one understands anything. People speak of Prajapita Brahma, but they don’t understand his biography. Baba has explained to you that this is His chariot, that He has taken this support after this one’s many births. This most elevated confluence age is now the episode of the Gita. Purity is the main thing. No one in the world understands how you have to become pure from impure. Sages and holy men never say: “Forget everything including your own body. Remember the one Father so that all the sinful actions you performed under the influence of Maya will be totally burnt away.” No guru can ever say this. The Father explains how this one becomes Brahma. In his childhood, he was a village urchin. He has taken 84 births from the first to the last. Therefore, the new world becomes old. The locks on the intellects of you children have now opened. You can understand this and are able to imbibe it. You have now become wise. Previously, you were unwise. Lakshmi and Narayan are wise whereas people here are unwise. Look at the picture in front of you. They are the masters of Paradise, are they not? Krishna was the master of heaven. He became the village urchin later. You children have to imbibe this and definitely become pure. The main thing is purity. Some even write: Baba, Maya made me fall. My eyes became criminal! The Father says: Consider yourselves to be souls. That’s all! We now have to return home. We have to remember the Father. You’ll have to act for a short time longer for the livelihood of your bodies and we will then go back home. War will take place for the destruction of this old world. Just see how it will take place. Your intellects can understand that you are becoming deities. Therefore, you definitely need a new world. This is why destruction definitely has to take place. We are establishing our new world by following shrimat. The Father says: I am present on your service. You demanded Me to come and purify you impure ones. Therefore, because you asked Me to come, I have come. I am showing you a very easy path: Manmanabhav! This was spoken by God, but they have mentioned Krishna’s name. Krishna is next to the Father. That One is the Master of the supreme abode whereas this one is the master of the world. Nothing happens in the subtle region. The foremost one of all is Shri Krishna. Everyone loves him a lot. All the rest come later. Not everyone can go to heaven. Therefore, sweetest children, you should experience deep happiness in your bones. Artificial happiness will not do. Many different types of children from outside used to come to Baba; they never stayed pure. Baba asked one of them: Since you indulge in vice, why do you come here? He replied: What can I do? I cannot stay away. I come every day because, some day, the arrow might strike the target. Who, apart from You, would grant me salvation? He used to come and just sit here. Maya is very powerful. He had the faith that Baba was making him pure from impure and into a beautiful flower, but what could he do? At least he was telling the truth. He must surely have reformed now. He had the faith that he would only be reformed here. At this time, there are so many actors. The features of one cannot be the same as another’s. Then after a cycle, you will repeat your parts with the same features. The parts of all souls are fixed. All actors continue to perform their parts accurately. There cannot be the slightest difference. All souls are imperishable and they have imperishable parts recorded within them. These matters have to be explained to you. This is explained to you so much but, in spite of that, you forget. You are unable to explain to others. This too has to happen in the drama. The kingdom is established every cycle. Only a few enter the golden age and they, too, are numberwise. It is also numberwise here. Each one of you can only know your part; no one else can know it. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always be honest with the true Father. Completely sacrifice yourself to the Father.
  2. Imbibe knowledge and become wise. Maintain deep internal happiness. Don’t lose your happiness by doing anything against shrimat.
Blessing: May you be a knowledgeable soul who listens to deep aspects of knowledge and becomes an embodiment of that.
Knowledgeable souls experience the form of every aspect of knowledge. Just as you enjoy listening to those and you find them deep, as well as listening to these things, you have to merge them into yourselves, that is, you have to become embodiments of them. There has to be this practice too. “I, the soul, am incorporeal.” You repeatedly hear this, but you need to listen to it while experiencing the incorporeal stage. As is the point, so let that be your experience. By doing this, you will accumulate pure thoughts in your account and, when your intellect is busy in doing this, you will easily be able to step away from wasteful thoughts.
Slogan: Those who have the double authority of knowledge and experience are intoxicated beggars, flying yogis (mast fakir and ramta yogi).

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 29 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

29-01-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – ग्रेट ग्रेट ग्रैण्ड फादर अर्थात् सर्व धर्म पिताओं का भी आदि पिता है प्रजापिता ब्रह्मा, जिसके आक्यूपेशन को तुम बच्चे ही जानते हो”
प्रश्नः- कर्मों को श्रेष्ठ बनाने की युक्ति क्या है?
उत्तर:- इस जन्म का कोई भी कर्म बाप से छिपाओ नहीं, श्रीमत के अनुसार कर्म करो तो हर कर्म श्रेष्ठ होगा। सारा मदार कर्मो के ऊपर है। अगर कोई पाप कर्म करके छिपा लेते तो उसका 100 गुणा दण्ड पड़ता, पाप वृद्धि को पाते रहते, बाप से योग टूट जाता। फिर ऐसे छिपाने वालों की सत्यानाश हो जाती, इसलिए सच्चे बाप के साथ सच्चे रहो।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चे यह तो समझते हैं इस पुरानी दुनिया में अब थोड़े दिन के हम मुसाफिर हैं। दुनिया के मनुष्य तो समझते हैं 40 हज़ार वर्ष यहाँ और रहने का है। तुम बच्चों को तो निश्चय है ना। यह बातें भूलो नहीं। यहाँ बैठे हो तो तुम बच्चों को अन्दर में बहुत गद्गद् होना चाहिए। इन आंखों से जो कुछ देखते हो यह तो विनाश होने का है। आत्मा तो अविनाशी है। यह भी बुद्धि में है हम आत्मा ने पूरे 84 जन्म लिए हैं, अब बाप आया है ले जाने के लिए। पुरानी दुनिया जब पूरी होती है तब बाप आते हैं नई दुनिया बनाने। नई दुनिया से पुरानी, फिर पुरानी दुनिया से नई दुनिया, इस चक्र का तुम्हारी बुद्धि में ज्ञान है। अनेक बार हमने यह चक्र लगाया है। अभी यह चक्र पूरा होता है। फिर नई दुनिया में हम थोड़े से देवतायें ही रहेंगे। मनुष्य नहीं होंगे। अभी हम मनुष्य से देवता बन रहे हैं। यह तो पक्का निश्चय है ना। बाकी कर्मों पर ही सारा मदार है। मनुष्य उल्टा कर्म करते हैं तो वह अन्दर खाता जरूर है इसलिए बाप पूछते हैं इस जन्म में ऐसे कोई पाप तो नहीं किये हैं? यह है ही छी-छी रावण राज्य। यह भी तुम समझते हो। दुनिया नहीं जानती कि रावण किस चीज़ का नाम है। बापूजी कहते थे रामराज्य चाहिए परन्तु अर्थ नहीं समझते थे। अब बेहद का बाप समझाते हैं रामराज्य किस प्रकार का होता है। यह तो धुंधकारी दुनिया है। अभी बेहद का बाप बच्चों को वर्सा दे रहे हैं। अभी तुम भक्ति नहीं करते हो। अभी बाप का हाथ मिला है। बाप के सहारे बिगर तुम विषय वैतरणी नदी में गोते खाते रहते थे, आधाकल्प है ही भक्ति। ज्ञान मिलने से तुम नई दुनिया सतयुग में चले जाते हो। अभी तुम बच्चों को यह निश्चय है – हम बाबा को याद करते-करते पवित्र बन जायेंगे, फिर पवित्र राज्य में आयेंगे। यह ज्ञान भी अभी पुरुषोत्तम संगमयुग पर तुमको मिलता है। यह है पुरुषोत्तम संगमयुग। जबकि तुम छी-छी से गुल-गुल, कांटों से फूल बन रहे हो। कौन बनाते हैं? बाप। बाप को जाना है। हम आत्माओं का वह बेहद का बाप है। लौकिक बाप को बेहद का बाप नहीं कहेंगे। पारलौकिक बाप आत्माओं के हिसाब से सबका बाप है। फिर ब्रह्मा का भी आक्यूपेशन चाहिए ना। तुम बच्चे सबका आक्यूपेशन जान चुके हो। विष्णु के भी आक्यूपेशन को जानते हो। कितना सजा हुआ है। स्वर्ग का मालिक है ना। यह तो संगम का ही कहेंगे। मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन, वह भी संगम में आते हैं ना। बाप समझाते हैं पुरानी दुनिया और नई दुनिया का यह संगम है। पुकारते भी हैं – हे पतित-पावन आओ। पावन दुनिया है नई दुनिया और पतित दुनिया है पुरानी दुनिया। यह भी जानते हो बेहद के बाप का भी पार्ट है। क्रियेटर, डायरेक्टर है ना। सब मानते हैं तो जरूर उनकी कोई तो एक्टिविटी होगी ना! उनको आदमी नहीं कहा जाता है, उनको तो शरीर नहीं है। बाकी सबको या तो मनुष्य या देवता कहेंगे। शिवबाबा को तो न देवता, न मनुष्य कह सकते, क्योंकि उनको शरीर ही नहीं है। यह तो टेम्परेरी लिया है। खुद कहते हैं मीठे-मीठे बच्चों को मैं शरीर बिगर राजयोग कैसे सिखलाऊं! मुझे मनुष्यों ने ठिक्कर-भित्तर में कह दिया है, परन्तु अभी तो तुम बच्चे समझते हो मैं कैसे आता हूँ! अभी तुम राजयोग सीख रहे हो। कोई मनुष्य तो सिखला न सके। देवताओं ने सतयुगी राजाई कैसे ली? जरूर पुरुषोत्तम संगमयुग पर राजयोग सीखे होंगे। तो यह सिमरण कर अभी तुम बच्चों को अथाह खुशी होनी चाहिए। हमने अब 84 का चक्र पूरा किया है। बाप कल्प-कल्प आते हैं। बाप खुद कहते हैं यह बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है। श्रीकृष्ण जो प्रिन्स था सतयुग का, वही फिर 84 का चक्र लगाते हैं। तुम शिव के तो 84 जन्म बतायेंगे नहीं। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार जानते हैं। माया बहुत कड़ी है, किसको भी छोड़ती नहीं। यह बाप अच्छी रीति जानते हैं। ऐसे मत समझो बाप कोई अन्तर्यामी है। नहीं, सबकी एक्टिविटी से जानते हैं। समाचार आते हैं – माया एकदम कच्चा पेट में डाल देती है। ऐसी बहुत बातें तुम बच्चों को मालूम नहीं पड़ती, बाप को तो सब मालूम पड़ता है। मनुष्य फिर समझते हैं बाबा अन्तर्यामी है। बाप कहते हैं मैं अन्तर्यामी नहीं हूँ। हरेक की चलन से सब मालूम पड़ता है। बहुत छी-छी चलन चलते हैं। बाप बच्चों को खबरदार करते हैं। माया से सम्भालना है। माया ऐसी है किसी न किसी रूप में एकदम हप कर लेती है। फिर भल बाप समझाते हैं तो भी बुद्धि में नहीं बैठता इसलिए बच्चों को बहुत खबरदार रहना है। काम महाशत्रु है। मालूम भी न पड़े कि हम विकार में गये हैं, ऐसे भी होता है इसलिए बाप कहते हैं कुछ भी भूल आदि होती है तो साफ बताओ, छिपाओ मत। नहीं तो सौ गुणा पाप हो जायेगा, जो अन्दर में खाता रहेगा। एकदम गिर पड़ेंगे। सच्चे बाप के साथ बिल्कुल सच्चा होना चाहिए, नहीं तो बहुत-बहुत घाटा है। माया इस समय तो बहुत कड़ी है। यह रावण की दुनिया है। हम इस पुरानी दुनिया को याद ही क्यों करें! हम तो नई दुनिया को याद करें, जहाँ अब जा रहे हैं। बाप नया मकान बनाते हैं तो बच्चे समझते हैं ना हमारे लिए मकान बन रहा है। खुशी रहती है। यह है बेहद की बात। हमारे लिए नई दुनिया स्वर्ग बन रही है। स्वर्ग में जरूर मकान भी होंगे रहने लिए। अब हम नई दुनिया में जाने वाले हैं। जितना बाप को याद करेंगे उतना गुल-गुल फूल बनेंगे। हम विकारों के वश कांटे बन गये थे। बाप जानते हैं माया आधा को तो एकदम खा जाती है। तुम भी समझते हो जो नहीं आते हैं वह तो माया के वश हो गये ना! बाप के पास तो आते नहीं। ऐसे माया बहुतों को हप कर लेती है। बहुत अच्छे-अच्छे कहकर जाते हैं – हम ऐसे करेंगे, यह करेंगे, हम तो यज्ञ के लिए प्राण देने तैयार हैं। आज वह हैं नहीं। तुम्हारी लड़ाई है ही माया के साथ। दुनिया में यह कोई नहीं जानते – माया के साथ लड़ाई कैसे होती है। अभी तुम बच्चों को बाप ने ज्ञान का तीसरा नेत्र दिया है, जिससे तुम अंधियारे से सोझरे में आ गये हो। आत्मा को ही यह ज्ञान नेत्र देते हैं तब बाप कहते हैं अपने को तुम आत्मा समझो। बेहद के बाप को याद करो। भक्ति में तुम याद करते थे ना। कहते भी थे आप आयेंगे तो बलिहार जायेंगे। कैसे बलिहार जायेंगे! यह थोड़ेही जानते थे। अभी तुम समझते हो हम जैसे आत्मा हैं वैसे बाप भी है। बाप का है अलौकिक जन्म। तुम बच्चों को कैसे अच्छी रीति पढ़ाते हैं! खुद कहते हो यह तो वही बाप है जो कल्प-कल्प हमारा बाप बनते हैं। हम भी बाबा-बाबा कहते हैं, बाप भी बच्चे-बच्चे कहते हैं। वही टीचर के रूप में राजयोग सिखलाते हैं। और तो कोई राजयोग सिखला न सके। विश्व का तुमको मालिक बनाते हैं तो ऐसे बाप का बनकर फिर उसी टीचर की शिक्षा भी लेनी चाहिए ना। खुशी में गद्गद् होना चाहिए। अगर छी-छी बना तो फिर वह खुशी आयेगी नहीं। भल कितना भी माथा मारे फिर जैसे वह हमारा जाति भाई नहीं। यहाँ मनुष्यों के कितने सरनेम होते हैं। तुम्हारा सरनेम देखो कितना बड़ा है! यह है बड़े ते बड़ा ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर ब्रह्मा। उनको कोई जानते ही नहीं। शिवबाबा को तो सर्वव्यापी कह दिया है। ब्रह्मा का भी किसको पता नहीं पड़ता। चित्र भी हैं ब्रह्मा-विष्णु-शंकर के। ब्रह्मा को सूक्ष्मवतन में ले गये हैं। बायोग्राफी कुछ नहीं जानते। सूक्ष्मवतन में ब्रह्मा को दिखाते हैं फिर प्रजापिता ब्रह्मा कहाँ से आयेगा! वहाँ बच्चे एडाप्ट करेंगे क्या! किसको भी पता नहीं है। प्रजापिता ब्रह्मा कहते हैं परन्तु बायोग्राफी नहीं जानते। बाबा ने समझाया है यह हमारा रथ है। बहुत जन्मों के अन्त में हमने यह आधार लिया है। यह पुरुषोत्तम संगमयुग गीता का एपीसोड है। पवित्रता भी मुख्य है। पतित से पावन बनना कैसे है, यह दुनिया में किसको भी पता नहीं है। साधू-सन्त आदि कभी ऐसे नहीं कहेंगे कि देह सहित सबको भूलो। एक बाप को याद करो तो माया के पाप कर्म सब भस्म हो जायेंगे। कोई गुरू ऐसे कभी नहीं कहेंगे।

बाप समझाते हैं – यह ब्रह्मा कैसे बनता है? छोटेपन में गांवड़े का छोरा था। चौरासी जन्म लिए हैं, फर्स्ट से लेकर लास्ट तक। तो नई दुनिया सो फिर पुरानी हो जाती है। अभी तुम बच्चों की बुद्धि का ताला खुला है। तुम समझ सकते हो, धारणा कर सकते हो। अभी तुम बुद्धिमान बने हो। आगे बुद्धिहीन थे। यह लक्ष्मी-नारायण बुद्धिवान हैं और यहाँ बुद्धि-हीन हैं। सामने देखो यह पैराडाइज़ के मालिक हैं ना। कृष्ण स्वर्ग का मालिक था फिर गांवड़े का छोरा बना है। तुम बच्चों को यह धारण कर फिर पवित्र भी जरूर बनना है। मुख्य है ही पवित्रता की बात। लिखते भी हैं – बाबा, माया ने हमको गिरा दिया। आंखें क्रिमिनल बन गई। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो। बस अब तो घर जाना है। बाप को याद करना है। थोड़े टाइम के लिए, शरीर निर्वाह के लिए कर्म कर फिर हम चले जाते हैं। इस पुरानी दुनिया के विनाश के लिए लड़ाई भी लगती है। यह भी तुम देखना-कैसे लगती है? बुद्धि से समझते हैं हम देवता बनते हैं तो हमको नई दुनिया भी चाहिए इसलिए विनाश जरूर होगा। हम अपनी नई दुनिया स्थापन कर रहे हैं श्रीमत पर।

बाप कहते हैं – मैं तुम्हारी सेवा में उपस्थित होता हूँ। तुमने डिमाण्ड की है कि हम पतितों को आकर पावन बनाओ तो तुम्हारे कहने से मैं आया हूँ, तुमको रास्ता बताता हूँ बहुत सहज। मनमनाभव। भगवानुवाच है ना सिर्फ कृष्ण का नाम दे दिया है। बाप के नेक्स्ट है कृष्ण। यह परमधाम का मालिक, वह विश्व का मालिक। सूक्ष्मवतन में तो कुछ होता ही नहीं है। सभी से नम्बरवन है श्रीकृष्ण, जिसको बहुत प्यार करते हैं। बाकी तो पीछे-पीछे आये हैं। स्वर्ग में तो सभी जा न सकें। तो मीठे-मीठे बच्चों को हड्डी खुशी रहनी चाहिए। आर्टीफिशियल खुशी नहीं चल सकती। बाहर से किस्म-किस्म के बच्चे बाबा के पास आते थे, कब पवित्र नहीं रहते। बाबा समझाते थे विकार में जाते हो तो फिर आते ही क्यों हो, कहते थे – क्या करें, रह नहीं सकते। रोज आता हूँ, न जाने कब कोई ऐसा तीर लग जाए। आप बिगर सद्गति कौन करेंगे। आकर बैठ जाते थे। माया बड़ी प्रबल है। निश्चय भी होता है – बाबा हमको पतित से पावन गुल-गुल बनाते हैं। परन्तु क्या करें, फिर भी सच तो बोलता था – अब जरूर वह सुधर गया होगा। उनको यह निश्चय था – इन द्वारा ही हम सुधरेंगे।

इस समय कितने एक्टर्स हैं। एक के फीचर्स न मिलें दूसरे से। फिर कल्प बाद उस ही फीचर्स से पार्ट रिपीट करेंगे। आत्माएं तो सब फिक्स हैं ना। सभी एक्टर्स बिल्कुल एक्यूरेट पार्ट बजाते रहते हैं। कुछ भी फ़र्क हो नहीं सकता। सभी आत्मायें अविनाशी हैं। उनमें पार्ट भी अविनाशी नूँधा हुआ है। कितनी समझाने की बाते हैं। कितना समझाते हैं फिर भी भूल जाते हैं। समझा नहीं सकते हैं। यह भी ड्रामा में होना है। हर कल्प राजाई तो स्थापन होती ही है। सतयुग में आते ही थोड़े हैं – सो भी नम्बरवार। यहाँ भी नम्बरवार हैं ना। एक का पार्ट एक ही जाने, दूसरा कोई जान नहीं सकता। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सच्चे बाप के साथ सदा सच्चा रहना है। बाप पर पूरा-पूरा बलिहार जाना है।

2) ज्ञान को धारण कर बुद्धिवान बनना है। अन्दर से हड्डी (ज़िगरी) खुशी में रहना है। कोई भी श्रीमत के विरूद्ध काम करके खुशी गुम नहीं करनी है।

वरदान:- ज्ञान की गुह्य बातों को सुनकर उन्हें स्वरूप में लाने वाले ज्ञानी तू आत्मा भव
ज्ञानी तू आत्मायें हर बात के स्वरूप का अनुभव करती हैं। जैसे सुनना अच्छा लगता है, गुह्य भी लगता है लेकिन सुनने के साथ-साथ समाना अर्थात् स्वरूप बनना – इसका भी अभ्यास होना चाहिए। मैं आत्मा निराकार हूँ – यह बार-बार सुनते हो लेकिन निराकार स्थिति के अनुभवी बनकर सुनो। जैसी प्वाइंट वैसा अनुभव। इससे शुद्ध संकल्पों का खजाना जमा होता जायेगा और बुद्धि इसी में बिजी होगी तो व्यर्थ संकल्पों से सहज किनारा हो जायेगा।
स्लोगन:- नॉलेज एवं अनुभव की डबल अथॉरिटी वाले ही मस्त फकीर रमता योगी हैं।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 29 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 January 2020

29-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप की श्रीमत तुम्हें 21 पीढ़ी का सुख दे देती है, इतनी न्यारी मत बाप के सिवाए कोई दे नहीं सकता, तुम श्रीमत पर चलते रहो”
प्रश्नः- अपने आपको राजतिलक देने का सहज पुरूषार्थ क्या है?
उत्तर:- 1. अपने आपको राज-तिलक देने के लिए बाप की जो शिक्षायें मिलती हैं उन पर अच्छी रीति चलो। इसमें आशीर्वाद वा कृपा की बात नहीं। 2. फालो फादर करो, दूसरे को नहीं देखना है, मन्मनाभव, इससे अपने को आपेही तिलक मिलता है। पढ़ाई और याद की यात्रा से ही तुम बेगर टू प्रिन्स बनते हो।
गीत:- ओम् नमो शिवाए……..

ओम् शान्ति। जब बाप और दादा ओम् शान्ति कहते हैं तो दो बार भी कह सकते हैं क्योंकि दोनों एक में हैं। एक है अव्यक्त, दूसरा है व्यक्त, दोनों इकट्ठा हैं। दो का इकट्ठा आवाज़ भी होता है। अलग-अलग भी हो सकता है। यह एक वन्डर है। दुनिया में यह कोई नहीं जानते कि परमपिता परमात्मा इनके शरीर में बैठ ज्ञान सुनाते हैं। यह कहाँ भी लिखा हुआ नहीं है। बाप ने कल्प पहले भी कहा था, अभी भी कहते हैं कि मैं इस साधारण तन में बहुत जन्मों के अन्त में इनमें प्रवेश करता हूँ, इनका आधार लेता हूँ। गीता में कुछ न कुछ ऐसे वरशन्स हैं जो कुछ रीयल भी हैं। यह रीयल अक्षर हैं-मैं बहुत जन्मों के अन्त में प्रवेश करता हूँ, जबकि यह वानप्रस्थ अवस्था में है। इनके लिए यह कहना ठीक है। पहले-पहले सतयुग में जन्म भी इनका है। फिर लास्ट में वानप्रस्थ अवस्था में है, जिसमें ही बाप प्रवेश करते हैं। तो इनके लिए ही कहते हैं, यह नहीं जानते कि हमने कितने पुनर्जन्म लिए। शास्त्रों में 84 लाख पुनर्जन्म लिख दिया है। यह सब है भक्ति मार्ग। इनको कहा जाता है-भक्ति कल्ट। ज्ञान काण्ड अलग है, भक्ति काण्ड अलग है। भक्ति करते-करते उतरते ही आते हैं। यह ज्ञान तो एक ही बार मिलता है। बाप एक ही बार सर्व की सद्गति करने आते हैं। बाबा आकर सबकी एक ही बार प्रालब्ध बनाते हैं-भविष्य की। तुम पढ़ते ही हो भविष्य नई दुनिया के लिए। बाप आते ही हैं नई राजधानी स्थापन करने इसलिए इनको राजयोग कहा जाता है। इनका बहुत महत्व है। चाहते हैं भारत का प्राचीन राजयोग कोई सिखलावे, परन्तु आजकल यह सन्यासी लोग बाहर जाकर कहते हैं कि हम प्राचीन राजयोग सिखलाने आये हैं। तो वह भी समझते हैं हम सीखें क्योंकि समझते हैं योग से ही पैराडाइज़ स्थापन हुआ था। बाप समझाते हैं – योगबल से तुम पैराडाइज के मालिक बनते हो। पैराडाइज स्थापन किया है बाप ने। कैसे स्थापन करते हैं, वह नहीं जानते। यह राजयोग रूहानी बाप ही सिखलाते हैं। जिस्मानी कोई मनुष्य सिखला न सके। आजकल एडल्ट्रेशन, करप्शन तो बहुत है ना इसलिए बाप ने कहा है – मैं पतितों को पावन बनाने वाला हूँ। जरूर फिर पतित बनाने वाला भी कोई होगा। अभी तुम जज करो-बरोबर ऐसे है ना? मैं ही आकर सभी वेदों-शास्त्रों आदि का सार सुनाता हूँ। ज्ञान से तुमको 21 जन्मों का सुख मिलता है। भक्ति मार्ग में है अल्पकाल क्षणभंगुर सुख, यह है 21 पीढ़ी का सुख, जो बाप ही देते हैं। बाप तुमको सद्गति देने के लिए जो श्रीमत देते हैं वह सबसे न्यारी है। यह बाप सबकी दिल लेने वाला है। जैसे वह जड़ देलवाड़ा मन्दिर है, यह फिर है चैतन्य दिलवाला मन्दिर। एक्यूरेट तुम्हारी एक्टिविटी के ही चित्र बने हैं। इस समय तुम्हारी एक्टिविटी चल रही है। दिलवाला बाप मिला है-सर्व का सद्गति करने वाला, सर्व का दु:ख हरकर सुख देने वाला। कितना ऊंच ते ऊंच गाया हुआ है। ऊंच ते ऊंच है भगवान शिव की महिमा। भल चित्रों में शंकर आदि के आगे भी शिव का चित्र दिखाया है। वास्तव में देवताओं के आगे शिव का चित्र रखना तो निषेध है। वह तो भक्ति करते नहीं। भक्ति न देवतायें करते, न सन्यासी कर सकते हैं। वह हैं ब्रह्म ज्ञानी, तत्व ज्ञानी। जैसे यह आकाश तत्व है, वैसे वह ब्रह्म तत्व है। वह बाप को तो याद करते नहीं, न उनको यह महामंत्र मिलता है। यह महामंत्र बाप ही आकर संगमयुग पर देते हैं। सर्व का सद्गति दाता बाप एक ही बार आकर मन्मनाभव का मंत्र देते हैं। बाप कहते हैं-बच्चे, देह सहित देह के सब धर्म त्याग, अपने को अशरीरी आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो। कितना सहज समझाते हैं। रावण राज्य के कारण तुम सब देह-अभिमानी बने हो। अभी बाप तुमको आत्म-अभिमानी बनाते हैं। अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करते रहो तो आत्मा में जो खाद पड़ी है, वह निकल जाए। सतोप्रधान से सतो में आने से कलायें कम होती हैं ना। सोने की भी कैरेट होती हैं ना। अभी तो कलियुग अन्त में सोना देखने में भी नहीं आता, सतयुग में तो सोने के महल होते हैं। कितना रात-दिन का फर्क है! उसका नाम ही है – गोल्डन एजड वर्ल्ड। वहाँ ईट-पत्थर आदि का काम नहीं होता। बिल्डिंग बनती है तो उसमें भी सोने-चांदी के सिवाए और किचड़-पट्टी नहीं होती। वहाँ साइन्स से बहुत सुख हैं। यह भी ड्रामा बना हुआ है। इस समय साइंस घमण्डी हैं, सतयुग में घमण्डी नहीं कहेंगे। वहाँ तो साइंस से तुमको सुख मिलता है। यहाँ है अल्पकाल का सुख फिर इससे ही बड़ा भारी दु:ख मिलता है। बॉम्ब्स आदि यह सब विनाश के लिए बनाते ही रहते हैं। बॉम्ब्स बनाने के लिए दूसरों को मना करते हैं फिर खुद बनाते रहते। समझते भी हैं-इन बॉम्ब्स से हमारी ही मौत होनी है लेकिन फिर भी बनाते रहते हैं तो बुद्धि मारी हुई है ना। यह सब ड्रामा में नूंध है। बनाने के सिवाए रह नहीं सकते। मनुष्य समझते हैं कि इन बॉम्ब्स से हमारा ही मौत होगा परन्तु पता नहीं कि कौन प्रेरित कर रहा है, हम बनाने बिगर रह नहीं सकते। जरूर बनाने ही पड़े। विनाश की भी ड्रामा में नूंध है। कितना भी भल कोई पीस प्राइज़ दे परन्तु पीस स्थापन करने वाला एक बाप ही है। शान्ति का सागर बाप ही शान्ति, सुख, पवित्रता का वर्सा देते हैं। सतयुग में है बेहद की सम्पत्ति। वहाँ तो दूध की नदियाँ बहती हैं। विष्णु को क्षीर सागर में दिखाते हैं। यह भेंट की जाती है। कहाँ वह क्षीर सागर, कहाँ यह विषय सागर। भक्ति मार्ग में फिर तलाव आदि बनाकर उसमें पत्थर पर विष्णु को सुला देते हैं। भक्ति में कितना खर्चा करते हैं। कितना वेस्ट ऑफ टाइम, वेस्ट ऑफ मनी करते हैं। देवियों की मूर्तियाँ कितना खर्चा कर बनाते हैं फिर समुद्र में डाल देते हैं तो पैसे वेस्ट हुए ना। यह है गुड़ियों की पूजा। कोई के भी आक्यूपेशन का किसको पता नहीं है। अभी तुम किसके भी मन्दिर में जाओ तो तुम हर एक का आक्यूपेशन जानते हो। बच्चों को मना नहीं है – कहाँ भी जाने की। आगे तो बेसमझ बनकर जाते थे, अभी सेन्सीबुल बनकर जाते हो। तुम कहेंगे हम इनके 84 जन्मों को जानते हैं। भारतवासियों को तो कृष्ण के जन्म का भी पता नहीं है। तुम्हारी बुद्धि में यह सारी नॉलेज है। नॉलेज सोर्स ऑफ इनकम है। वेद-शास्त्र आदि में कोई एम ऑबजेक्ट नहीं है। स्कूल में हमेशा एम ऑबजेक्ट होती हैं। इस पढ़ाई से तुम कितने साहूकार बनते हो।

ज्ञान से होती है सद्गति। इस नॉलेज से तुम सम्पत्तिवान बनते हो। तुम कोई भी मन्दिर में जायेंगे तो झट समझेंगे -यह किसका यादगार है! जैसे देलवाड़ा मन्दिर है – वह है जड़, यह है चैतन्य। हूबहू जैसे यहाँ झाड़ में दिखाया है, वैसा मन्दिर बना हुआ है। नीचे तपस्या में बैठे हैं, ऊपर छत में सारा स्वर्ग है। बहुत खर्चे से बनाया हुआ है। यहाँ तो कुछ भी नहीं है। भारत 100 परसेन्ट सालवेन्ट, पावन था, अभी भारत 100 परसेन्ट इनसालवेन्ट पतित है क्योंकि यहाँ सब विकार से पैदा होते हैं। वहाँ गन्दगी की बात नहीं होती। गरूड़ पुराण में रोचक बातें इसलिए लिखी हैं कि मनुष्य कुछ सुधरें। परन्तु ड्रामा में मनुष्यों का सुधरना है नहीं। अभी ईश्वरीय स्थापना हो रही है। ईश्वर ही स्वर्ग स्थापन करेंगे ना। उनको ही हेविनली गॉड फादर कहा जाता है। बाप ने समझाया है वह लश्कर जो लड़ते हैं, वह सब कुछ करते हैं राजा-रानी के लिए। यहाँ तुम माया पर जीत पाते हो अपने लिए। जितना करेंगे उतना पायेंगे। तुम हर एक को अपना तन-मन-धन भारत को स्वर्ग बनाने में खर्च करना पड़ता है। जितना करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। यहाँ रहने का तो कुछ है नहीं। अभी के लिए ही गायन है-किनकी दबी रहेगी धूल में……. अभी बाप आया हुआ है, तुमको राज्य-भाग्य दिलाने। कहते हैं अब तन-मन-धन सब इसमें लगा दो। इसने (ब्रह्मा ने) सब कुछ न्योछावर कर दिया ना। इनको कहा जाता है महादानी। विनाशी धन का दान करते हैं तो अविनाशी धन का भी दान करना होता है, जितना जो दान करे। नामीग्रामी दानी होते हैं तो कहते हैं फलाना बड़ा फ्लैन्थ्रोफिस्ट था। नाम तो होता है ना। वो इनडायरेक्ट ईश्वर अर्थ करते हैं। राजाई नहीं स्थापन होती है। अभी तो राजाई स्थापन होती है इसलिए कम्पलीट फ्लैन्थ्रोफिस्ट बनना है। भक्ति मार्ग में गाते भी हैं हम वारी जायेंगे….। इसमें खर्चा कुछ नहीं है। गवर्मेन्ट का कितना खर्चा होता है। यहाँ तुम जो कुछ करते हो अपने लिए, फिर चाहे 8 की माला में आओ, चाहे 108 में, चाहे 16108 में। पास विद् ऑनर बनना है। ऐसा योग कमाओ जो कर्मातीत अवस्था को पा लो फिर कोई सजा न खाओ।

तुम सब हो वारियर्स। तुम्हारी लड़ाई है रावण से, कोई मनुष्य से नहीं है। नापास होने के कारण दो कला कम हो गई। त्रेता को दो कला कम स्वर्ग कहेंगे। पुरूषार्थ तो करना चाहिए ना – बाप को पूरा फालो करने का। इसमें मन-बुद्धि से सरेन्डर होना होता है। बाबा यह सब कुछ आपका है। बाप कहेंगे यह सर्विस में लगाओ। मैं जो तुमको मत देता हूँ, वह कार्य करो, युनिवर्सिटी खोलो, सेन्टर्स खोलो। बहुतों का कल्याण हो जायेगा। सिर्फ यह मैसेज देना है बाप को याद करो और वर्सा लो। मैसेन्जर, पैगम्बर तुम बच्चों को कहा जाता है। सबको यह मैसेज दो कि बाप ब्रह्मा द्वारा कहते हैं कि मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे, जीवनमुक्ति मिल जायेगी। अभी हैं जीवनबंध फिर जीवनमुक्त होंगे। बाप कहते हैं मैं भारत में ही आता हूँ। यह ड्रामा अनादि बना हुआ है। कब बना, कब पूरा होगा? यह प्रश्न नहीं उठ सकता। यह तो ड्रामा अनादि चलता ही रहता है। आत्मा कितनी छोटी बिन्दी है। उसमें यह अविनाशी पार्ट नूंधा हुआ है। कितनी गुह्य बातें हैं। स्टार मिसल छोटी बिन्दी है। मातायें भी यहाँ मस्तक पर बिन्दी देती हैं। अभी तुम बच्चे पुरूषार्थ से अपने आपको राजतिलक दे रहे हो। तुम बाप की शिक्षा पर अच्छी रीति चलेंगे तो जैसेकि तुम अपने को राज-तिलक देते हो। ऐसे नहीं कि इसमें आशीर्वाद वा कृपा होगी। तुम ही अपने को राज-तिलक देते हो। असुल में यह राज-तिलक है। फालो फादर करने का पुरूषार्थ करना है, दूसरों को नहीं देखना है। यह है मन्मनाभव, जिससे अपने को आपेही तिलक मिलता है, बाप नहीं देते हैं। यह है ही राजयोग। तुम बेगर टू प्रिन्स बनते हो। तो कितना अच्छा पुरूषार्थ करना चाहिए। फिर इनको भी फालो करना है। यह तो समझ की बात है ना। पढ़ाई से कमाई होती है। जितना-जितना योग उतनी धारणा होगी। योग में ही मेहनत है इसलिए भारत का राजयोग गाया हुआ है। बाकी गंगा स्नान करते-करते तो आयु भी चली जाये तो भी पावन बन न सकें। भक्ति मार्ग में ईश्वर अर्थ गरीबों को देते हैं। यहाँ फिर खुद ईश्वर आकर गरीबों को ही विश्व की बादशाही देते हैं। गरीब निवाज़ है ना। भारत जो 100 परसेन्ट सालवेन्ट था, वह इस समय 100 परसेन्ट इनसालवेन्ट है। दान हमेशा गरीबों को दिया जाता है। बाप कितना ऊंच बनाते हैं। ऐसे बाप को गाली देते हैं। बाप कहते हैं – ऐसे जब ग्लानि करते हैं तब मुझे आना पड़ता है। यह भी ड्रामा बना हुआ है। यह बाप भी है, टीचर भी है। सिक्ख लोग कहते हैं – सतगुरू अकाल। बाकी भक्ति मार्ग के गुरू तो ढेर हैं। अकाल को तख्त सिर्फ यह मिलता है। तुम बच्चों का भी तख्त यूज़ करते हैं। कहते हैं मैं इनमें प्रवेश कर सबका कल्याण करता हूँ। इस समय इनका यह पार्ट है। यह बड़ी समझने की बातें हैं। नया कोई समझ न सके। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अविनाशी ज्ञान धन का दान कर महादानी बनना है। जैसे ब्रह्मा बाप ने अपना सब कुछ इसमें लगा दिया, ऐसे फालो फादर कर राजाई में ऊंच पद लेना है।

2) सजाओं से बचने के लिए ऐसा योग कमाना है जो कर्मातीत अवस्था को पा लें। पास विद् ऑनर बनने का पूरा-पूरा पुरूषार्थ करना है। दूसरों को नहीं देखना है।

वरदान:- अपने पूर्वज स्वरूप की स्मृति द्वारा सर्व आत्माओं को शक्तिशाली बनाने वाले आधार, उद्धारमूर्त भव
इस सृष्टि वृक्ष के मूल तना, सर्व के पूर्वज आप ब्राह्मण सो देवता हो। हर कर्म का आधार, कुल मर्यादाओं का आधार, रीति रस्म का आधार आप पूर्वज सर्व आत्माओं के आधार और उद्धारमूर्त हो। आप तना द्वारा ही सर्व आत्माओं को श्रेष्ठ संकल्पों की शक्ति वा सर्वशक्तियों की प्राप्ति होती है। आपको सब फालो कर रहे हैं इसलिए इतनी बड़ी जिम्मेवारी समझते हुए हर संकल्प और कर्म करो क्योंकि आप पूर्वज आत्माओं के आधार पर ही सृष्टि का समय और स्थिति का आधार है।
स्लोगन:- जो सर्व शक्तियों रूपी किरणें चारों ओर फैलाते हैं वही मास्टर ज्ञान-सूर्य हैं।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

बीच-बीच में संकल्पों की ट्रैफिक को स्टॉप करने का अभ्यास करो। एक मिनट के लिए संकल्पों को, चाहे शरीर द्वारा चलते हुए कर्म को रोककर बिन्दू रूप की प्रैक्टिस करो। यह एक सेकेण्ड का भी अनुभव सारा दिन अव्यक्त स्थिति बनाने में मदद करेगा।

TODAY MURLI 29 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 29 January 2020

29/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father’s shrimat gives you happiness for 21 generations. No one but the Father can give such unique instructions. You must continue to follow His shrimat.
Question: What is the easy way to give yourself a tilak of sovereignty?
Answer: 1) In order to give yourself a tilak of sovereignty, continue to follow completely all the teachings that the Father gives you. There is no question of blessings or mercy in this.
2) Follow the Father and do not look at others. Become “Manmanabhav”. By doing this, you automatically receive your tilak. By studying this knowledge and remaining on the pilgrimage of remembrance, you change from beggars to princes.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. When Bap and Dada say “Om shanti” they can also say it twice because they are two individuals in one; one is corporeal and the other is Incorporeal. They can either say it both together or each can say it separately. This is a wonder. No one in the world knows that the Supreme Father, the Supreme Soul, sits in this one’s body and gives knowledge. This has not been written anywhere. Just as the Father said this a cycle ago, so He says now: I enter this one’s ordinary body at the time of the final one of his many births. I take the support of this body. There are some words in the Gita that are real. The words, “I enter this one at the time of the final one of his many births when he is in his age of retirement”, are real. It is accurate to say that of this one. In the golden age, the first one to take birth is this one. Then, at the end, when he is in his stage of retirement, the Father enters him. Therefore, it is said of this one that he doesn’t know how many rebirths he has taken. They have written “8.4 million rebirths” in the scriptures. All of that belongs to the path of devotion. That is called a devotional cult. What is done on the path of knowledge is distinct from what is done on the path of devotion. Whilst devotees are performing devotion, they continue to descend. You only receive this knowledge once. The Father only comes in this one age to grant salvation to everyone. This is the only time that Baba comes to make you all create your future reward. You study now in order to go to the future new world. The Father comes to establish your new kingdom. That is why it is called Raj Yoga. Therefore, this Raj Yoga is considered to be very important. People want to learn this ancient Raj Yoga of Bharat. Nowadays, sannyasis go abroad and claim that they have come to teach ancient Raj Yoga. Then, because the people there believe that Paradise was created through yoga, they feel that they want to learn it. The Father explains: It is through the power of this yoga that you become the masters of Paradise. The Father established Paradise, but no one knows how He established it. Only the spiritual Father teaches this Raj Yoga. No corporeal human being can teach it. Nowadays, there is a great deal of adulteration and corruption. This is why the Father says: I am the One who purifies the impure. Therefore, there must certainly be someone who makes souls impure. Now, you must judge whether this is right or not. I am the One who comes and gives the essence of all the Vedas and scriptures. By studying this knowledge, you receive happiness for 21 births. On the path of devotion, there is only temporary, momentary happiness. Here, the Father gives you so much happiness that it lasts for 21 generations. The shrimat that the Father gives to grant you salvation is unique. This Father is the One who wins everyone’s heart. That is the non-living Dilwala Temple and this is the living Dilwala Temple. Those images of your activity are accurate. It is at this time that the activity of yours that they portray takes place. You have found the Father, the One who wins your hearts, the One who grants salvation to all, the One who removes your sorrow and bestows happiness on you. He is remembered as the most elevated One. God Shiva is praised as the most elevated One of all. Elsewhere, Shiva’s oval image is kept in front of Shankar etc. In fact, it should be forbidden to keep Shiva’s image in front of the deities because they don’t do devotion. Neither do the deities perform devotion nor do the sannyasis perform devotion. They just have the knowledge of the brahm element. Just as the sky is one of the elements, in the same way, that is the brahm element, the element of light. Neither do they remember the Father nor do they receive the great mantra from Him. The Father alone comes at this confluence age and gives you this great mantra. The Father, the Bestower of Salvation for all, only comes at this one age and gives the mantra of “Manmanabhav”. He says: Children, renounce all bodily religions, and that includes the consciousness of your own bodies, consider yourselves to be bodiless souls and remember Me, your Father. He explains this in a very easy way. Because this is Ravan’s kingdom you have all become body conscious. The Father is now making you soul conscious. He says: Consider yourselves to be souls and remember Me, your Father, so that the alloy that is at present mixed in you can be removed. When you came down from your satopradhan stage to your sato stage, your celestial degrees were reduced. The purity of gold is indicated by how many carats it has. Now, at the end of the iron age, there is no gold visible. In the golden age, there are palaces built of gold. The contrast is like that of day and night. That is called the goldenaged world. There is no need there for bricks or stones. There is no rubbish used in the buildings that are built there, just gold and silver. They have a great deal of happiness through science there. This too is predestined in the drama. People of this time have arrogance of science. In the golden age, there is no arrogance of science. When you are there, you only receive happiness from science. Here, the happiness is only temporary and there is also a great deal of sorrow through science now. Bombs etc. for destruction are being made. They tell others not to make those bombs, but they themselves still continue to make them. Even though they know that they will all die through those bombs, they still continue to make them. Therefore, their intellects are already dead. All of this is predestined in the drama; they cannot stop making them. They do understand that they will die through those bombs, but they don’t understand who is inspiring them to carry on making them. They cannot stop making them; those bombs definitely have to be made. Destruction too is predestined in the drama. No matter how many peace prizes someone is given, only the one Father creates peace. He is the Ocean of Peace. He is the One who gives you your inheritance of peace, happiness and purity. In the golden age, there is limitless wealth. Rivers of milk flow there. Vishnu is portrayed floating on an ocean of milk. That picture is made to compare the vast difference between that ocean of milk and this ocean of poison. On the path of devotion, they make ponds etc., and place a statue of Vishnu on a stone plinth in them. They spend so much money on devotion. It is such a waste of time and a waste of money! They spend so much money on creating statues of goddesses. Then they go and sink them in the ocean. Therefore, that money is wasted. It is just the worship of dolls. None of the worshippers knows the occupations of those they worship. You now know the occupation of whoever’s temple you go to. There are no objections; you children are not forbidden to go anywhere. You previously used to go without understanding anything. You now go having become sensible. You say that you know about their 84 births. The people of Bharat don’t even know about Krishna’s birth. All of this knowledge is in your intellects. This knowledge is your source of income. There is no aim or objective in studying the Vedas and scriptures etc. There would always be some aim and objective in studying something in a school. You become very wealthy through this study. You receive salvation and you also become wealthy by studying this knowledge. Whatever temple you go to, you can very quickly understand whose memorial it is. That Dilwala Temple is non-living, whereas this is the living one. Just as you are portrayed here in the picture of the tree, so that temple has been created in the same way with you portrayed sitting in tapasya down below and with the whole of heaven shown above on the ceiling. It must have cost a great deal of money to create that. Here, you have no expense. Bharat was 100% solvent and pure. Now, Bharat is 100% insolvent and impure. Everyone here is born through the vice of lust. There, there is no question of dirt. Fearsome stories have been written in the Garud Purana to make people change their behaviour, but it is not in the drama for people to change at that time. God’s creation is taking place now. God is the One who creates heaven. He is called Heavenly God, the Father. The Father has explained that other soldiers fight for their rulers whereas you soldiers are now conquering Maya for your own benefit. The more you do, the more you will receive. Each one of you has to use your mind, body and wealth to change Bharat into heaven. The more you do, the higher the status you will claim. Nothing is going to remain here. The saying, “The wealth of some will remain buried”, has been remembered of this time in the cycle. The Father has now come to enable you to receive your fortune of the kingdom. He says: Now use everything you have, your minds, bodies and wealth, for this. This one, Brahma, surrendered everything he had. He is called a great donor. As well as giving eternal wealth, he also donated his perishable wealth. Each one of you can give as much as you choose. Well-known donors are also called great philanthropists. They make a name for themselves. They give indirectly in the name of God but their kingdom is not being created. It is your kingdom that is now being created. Therefore, you must become complete philanthropists. On the path of devotion, they say that they will sacrifice themselves. There is no expense incurred here. That Government has to spend so much. Whatever you do here, you do that for yourselves. Whether you become part of the rosary of eight, the rosary of 108 or the rosary of 16,108 depends on you. You do have to pass with honours. You should earn such an income by having yoga that you reach your karmateet stage and don’t have to experience punishment. All of you are warriors. Your war is with Ravan, not with human beings. There are two degrees less for those who fail. The silver age is known as heaven with two degrees less. You have to make effort to follow the Father completely. However, for this, you also have to surrender everything with your mind and intellect. You would say: “Baba, all of this is Yours.” The Father would then reply: Use it for service. Carry out your task according to the instructions I give you. Open a university, open centres, so that many can benefit. Simply give this message: Remember the Father and claim your inheritance. You children are called messengers. Therefore, give everyone this message: The Father says through Brahma: Remember Me and your sins will be absolved. You will receive liberation-in-life. You now have a life of bondage but you will then have a life of liberation. The Father says: I only come in Bharat. This drama is eternally predestined. The questions of when it was created and when it will end cannot arise. This drama continues eternally. Souls are such tiny points and each one has an eternal part fixed within him. These are very deep matters. Each soul is a tiny point like a star. Mothers put a tilak (dot) on their foreheads. By making effort now, each of you children gives yourself a tilak of sovereignty. If you follow the Father’s teachings accurately, you give yourself a tilak of sovereignty. There is no question of mercy or special blessings in this. You have to give yourself a tilak of sovereignty. That tilak refers to this original tilak of sovereignty. You have to make that much effort now and follow the Father. You must not look at others. This is what it means to become “Manmanabhav”. It is through this that you automatically receive your tilak. The Father does not give you this. This study is Raj Yoga where you have to change from a beggar to a prince. Therefore, you have to make very good effort accordingly and also follow this one. You have to understand this aspect. Through this study you earn an income. The more yoga you have, the more knowledge you will imbibe. It is yoga that takes effort. This is why the Raj Yoga of Bharat has been remembered. However, you could spend your whole life bathing in the Ganges and you would still not be able to become pure. People on the path of devotion give to the poor in the name of God whereas God, Himself, comes here and gives the sovereignty of the world to the poor. He is the Lord of the Poor. Bharat that was 100% solvent has now become 100% insolvent. Donations are always given to the poor. The Father makes you so elevated, and yet you defame such a Father! The Father says: When you defame Me in this way, I have to come. That too is predestined in the drama. This is your Father and also your Teacher. The Sikhs speak of the immortal Satguru but there are many gurus on the path of devotion. This is the throne that the Immortal One takes. He also uses the thrones of you children. He says: I enter this one’s body in order to benefit everyone. This is His part at this time. These matters have to be understood. A new person won’t be able to understand these things. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to become great donors by donating the eternal wealth of knowledge. Just as Father Brahma used everything he had for service, follow the father in the same way and claim a high status in that kingdom.
  2. In order to be freed from punishment, earn such an income by having yoga that you reach your karmateet stage. Make full effort to pass with honours and don’t look at others.
Blessing: May you be an image of support and an image of upliftment who, with the awareness of your worthy of worship form, makes all souls powerful.
You Brahmins who are to become deities are the main trunk of this Kalpa tree and the ancestors of everyone. The foundation of every act, the foundation of the codes of conduct of the clan, the foundation of the customs and systems are you ancestor souls who are images of support and the images of upliftment. It is through you, the trunk, that all souls receive power for elevated thoughts and all powers. Everyone follows you and this is why you have to create every thought and perform every act while considering yourselves to be responsible for such a huge responsibility because the time and state of the world depend on you ancestor souls.
Slogan: Those who spread the rays of all powers everywhere are master suns of knowledge.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

Every now and again, practice stopping the traffic of your thoughts. For one minute, stop your thoughts and also the actions being performed through the body and practice becoming a point form. This practice of a second will help you to create an avyakt stage throughout the day.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 29 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 January 2019

To Read Murli 28 January 2019 :- Click Here
29-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अभी तुम्हें शान्ति और सुख के टावर में चलना है इसलिए अपने स्वभाव और कैरेक्टर को सुधारते जाओ, पुराने को परिवर्तन करो”
प्रश्नः- दिमाग सदा रिफ्रेश रहे उसकी युक्ति क्या है?
उत्तर:- बाप जो सुनाते हैं उसका मंथन करो, विचार सागर मंथन करने से दिमाग सदा रिफ्रेश हो जाता है। जो सदा रिफ्रेश रहते हैं वह दूसरों की भी सर्विस कर सकते हैं। उनकी बैटरी सदा चार्ज होती रहती है क्योंकि विचार सागर मंथन करने से सर्वशक्तिमान् बाप के साथ कनेक्शन जुटा रहता है।
गीत:- नयनहीन को राह दिखाओ…. 

ओम् शान्ति। यह गीत भी मनुष्यों का गाया हुआ है। परन्तु अर्थ कुछ भी नहीं जानते। जैसे और प्रार्थना करते हैं, यह भी जैसे एक प्रार्थना है। परमात्मा को जानते नहीं। अगर परमात्मा को जानें तो सब कुछ जान जायें। सिर्फ परमात्मा कह देते हैं परन्तु उनके जीवन का कुछ भी पता नहीं। तो नैनहीन हुए ना। तुमको अब ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है, इसलिए तुमको त्रिनेत्री कहा जाता है। दुनिया में भल मनुष्य यह अक्षर कहते हैं त्रिनेत्री, त्रिकालदर्शी, त्रिमूर्ति.. परन्तु अर्थ कुछ भी नहीं जानते। जैसे कहते हैं साइंस और साइलेन्स का आपस में क्या संबंध है! भल प्रश्न पूछते हैं उत्तर खुद भी नहीं जानते। कहते हैं वर्ल्ड में पीस हो परन्तु वह कब हुई थी? किसने की थी? कुछ भी नहीं जानते। सिर्फ पूछते रहते हैं तो जरूर कोई जानने वाला चाहिए जो बताये। तुम बच्चों को बाप ने समझाया है यह सब खेल बना हुआ है। टावर आफ पीस, सुख का टावर, सबका टावर होता है, शान्ति का टावर है मूलवतन, जहाँ हम आत्मायें रहती हैं। उसको कहेंगे टावर आफ साइलेन्स। फिर सतयुग में है टावर आफ सुख, टावर आफ पीस, प्रासपर्टी। ऐसे कोई मुख से नहीं कहेंगे कि हम आत्माओं का घर मुक्तिधाम है। यह सब बातें बाप ही समझाते हैं, टीचर हो तो ऐसा हो। वह है टावर आफ नॉलेज। तुमको भी शान्ति और सुख के टावर में ले जाते हैं। यह फिर है टावर आफ दु:खधाम। हर बात में इनसालवेन्ट हैं। पवित्रता सुख शान्ति का वर्सा तुम इस समय ही पाते हो। बलिहारी इस पुरुषोत्तम संगमयुग की है, इनको कल्याणकारी युग कहा जाता है। कलियुग के बाद फिर होता है सतयुग। वह सुख का टावर है। वह शान्ति का टावर है। यह दु:ख का टावर है। यहाँ अथाह दु:ख हैं। सब दु:ख आकर इकट्ठे हुए हैं। कहते हैं ना दु:ख के पहाड़ गिरते हैं, जब अर्थक्वेक आदि होती है तो कितना त्राहि-त्राहि करते हैं।

बाप ने समझाया है बाकी टाइम थोड़ा है। बच्चों को याद की यात्रा में टाइम लगता है। बहुत हैं जो पूरा समझते ही नहीं। बिन्दी समझें, क्या समझें। अरे जैसी आत्मा है वैसे ही परमात्मा भी है। आत्मा को जानते हो ना, वह लक्की सितारा है। बिल्कुल सूक्ष्म है। इन ऑखों से नहीं देख सकते हैं। तो यह सब बातें बाप समझाते हैं। ऐसी बातों पर विचार सागर मंथन करने से भी दिमाग रिफ्रेश हो जाता है। कहाँ भी जायेंगे तो समझायेंगे कि टावर आफ शान्ति, टावर आफ सुख, टावर आफ पवित्रता है ही न्यु वर्ल्ड में। पुराने स्वभाव को, कैरेक्टर्स को सुधार कर बाप नई दुनिया का मालिक बनाते हैं। मनुष्य भल गाते हैं वेद शास्त्र गीता आदि पढ़ते हैं परन्तु समझते कुछ भी नहीं हैं। सीढ़ी तो नीचे उतरते ही आते हैं। भल अपने को शास्त्रों की अथॉरिटी समझते हैं परन्तु उनको उतरना ही है। आत्मा पहले सबकी सतोप्रधान होती है फिर धीरे-धीरे बैटरी खलास हो जाती है, इस समय सबकी बैटरी खलास है। अब फिर बैटरी चार्ज होती है। बाप कहते हैं मनमनाभव। अपने को आत्मा समझो। बाप है सर्वशक्तिमान्, उनको याद करने से तुम्हारे पाप कट जायेंगे और फिर बैटरी भर जायेगी। तुम अभी फील कर रहे हो, हमारी बैटरी भर रही है। कोई की नहीं भी भरती है। सुधरने के बदले और ही बिगड़ जाते हैं। बाप से प्रतिज्ञा भी करते हैं बाबा हम कभी विकार में नहीं जायेंगे। आपसे तो 21जन्मों का वर्सा जरूर लेंगे, फिर भी गिर पड़ते हैं। बाप कहते हैं काम विकार पर जीत पाने से तुम जगतजीत बनेंगे। फिर अगर विकार में गया तो अक्ल चट। यह काम महाशत्रु है। एक दो को देखने से काम की आग लगती है। बाप कहते हैं तुम काम चिता पर बैठ सांवरे बन गये हो, अब तुमको गौरा बनाते हैं। यह बाप ही तुम बच्चों को समझाते हैं। पढ़ाई से तुम्हारी बुद्धि खुलती है। झाड़ का वर्णन भी करते हैं। यह है कल्प वृक्ष। मनुष्य सृष्टि का वैराइटी झाड। इनको उल्टा झाड कहा जाता है। कितने वैराइटी धर्म हैं। इतनी करोड़ों आत्माओं को अविनाशी पार्ट मिला हुआ है। दो का एक जैसा पार्ट हो न सके। अभी तुमको ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। विचार करो कितनी ढेर आत्मायें हैं। जैसे मछलियों का एक खिलौना होता है, तार पर ऐसे नीचे उतरती हैं, यह भी ऐसे ही है। हम भी ड्रामा की रस्सी में बँधे हुए हैं। ऐसे उतरते-उतरते कल्प आकर पूरा हुआ है फिर हम ऊपर जाते हैं। यह समझ भी बच्चों को अब मिली है। ऊपर से आत्मायें आती हैं, नम्बरवार एड होती जाती हैं। इस खेल में तुम पार्टधारी हो। मुख्य क्रियेटर, डायरेक्टर, एक्टर होते हैं ना। मुख्य तो है शिवबाबा। फिर कौन से एक्टर हैं? ब्रह्मा, विष्णु, शंकर। भक्ति मार्ग वालों ने अनेक चित्र बनाये हैं परन्तु अर्थ का कुछ भी पता नहीं। लाखों वर्ष कह देते हैं। अब बाप आकर सारी नॉलेज देते हैं। अब तुम समझते हो सतयुग में यह ज्ञान हमको नहीं होगा। जैसे यहाँ कारोबार चलती है, वैसे वहाँ पवित्रता, सुख शान्ति की राजधानी चलती है। बाप भी वन्डरफुल है, इतनी छोटी बिन्दी है। जैसे तुम्हारी आत्मा ऐसे इनकी आत्मा भी बाप से सारा ज्ञान ले रही है। बाबा फिर बड़ा थोड़ेही होगा। वह भी बिन्दी है। तुम्हारी आत्मा जो बिन्दी है, उनमें सारा ज्ञान धारण हो रहा है। यह ज्ञान कल्प के बाद फिर बाप देंगे। जैसे रिकार्ड भरा हुआ होता है जो रिपीट होता है ना। आत्मा में भी सारा पार्ट भरा हुआ है। कोई बहुत वन्डरफुल बात होती है तो उनको कुदरत कहा जाता है। इस अनादि ड्रामा के पार्ट से एक भी छूट नहीं सकता। सबको पार्ट बजाना ही है। यह बड़ी वन्डरफुल बातें हैं, जो अच्छी रीति समझकर धारण करते हैं तो खुशी का पारा चढ़ता है। तुमको कितनी स्कालरशिप मिलती है। तो पुरुषार्थ अच्छी रीति करना चाहिए। आप समान बनाना है। तुम सब टीचर हो। टीचर तुम्हें पढ़ाकर आप समान टीचर बनाते हैं। ऐसे नहीं कि गुरू भी बनना है। नहीं। तुम टीचर बनते हो क्योंकि राजयोग सिखलाते हो फिर तुम चले जायेंगे। यह भी तुम समझते हो। वो लोग तो जानते नहीं, न सद्गति दे सकते हैं। सर्व का सद्गति दाता तो एक बाप है ना। लिब्रेटर गाइड भी वही है। जब तुम वहाँ से आते हो तो बाप गाइड नहीं बनता है। बाप गाइड भी अभी बनता है। जब तुम घर से आते हो तो घर को ही भूल जाते हो। अभी तुम भी गाइड हो, पण्डे हो। सबको रास्ता बताते हो। अशरीरी भव। तुम्हारा नाम पाण्डव सेना भी है। शरीरधारी तो हैं ना। जब अकेले हो तो सेना नहीं कहेंगे। शरीर के साथ जब माया पर जीत पाते हो तब तुमको सेना कहते हैं। उन्होंने फिर लड़ाई की बातें लिख दी हैं। यह है बेहद की बात। वो लोग कान्फ्रेन्स आदि करते हैं, संस्कृत आदि के कालेज खोलते हैं। कितना खर्चा करते हैं। खर्चा करते-करते जैसेकि खाली हो पड़े हैं। चांदी, सोना, हीरा सब खलास हो गये हैं। फिर तुम्हारे लिए सब कुछ नया निकलेगा। तो तुम बच्चों को चलते फिरते बहुत खुशी होनी चाहिए। बाप को और वर्से को याद करना है। तुम्हारा पार्ट चलता रहता है। कभी बन्द होने वाला नहीं है। बाप समझाते हैं – तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। 84 का हिसाब-किताब भी इनको बताते हैं, जो पहले-पहले आते हैं। तुम बच्चों को अथाह सुख मिलता है। टावर आफ हेल्थ, वेल्थ, हैपीनेस.. तो कितना नशा होना चाहिए। बाप हमको बेहद का वर्सा देते हैं। जितना तुम नज़दीक आते जायेंगे, उतनी आफतें भी आती जायेंगी। झाड की वृद्धि भी होनी है। झाड कच्चे हैं तो झट तूफान लगने से झड जाते हैं। यह तो होना ही है।

तुम्हारा एम आब्जेक्ट का चित्र सामने खड़ा है। तुम और कोई चित्र नहीं रख सकते। भक्ति मार्ग में मनुष्य ढेर चित्र रखते हैं। ज्ञान मार्ग में है एक। सो भी नॉलेज बुद्धि में है। बाकी बिन्दी का चित्र क्या निकालेंगे। आत्मा तो सितारा है ना। यह भी समझने की बातें हैं। आत्मा को तो इन ऑखों से देख नहीं सकते। बहुत कहते हैं बाबा हमको साक्षात्कार हो, वैकुण्ठ देखें। परन्तु देखने से मालिक थोड़ेही बनेंगे। मनुष्य कहते हैं फलाना स्वर्ग पधारा। परन्तु स्वर्ग है कहाँ, जानते थोड़ेही हैं। जो आत्मायें स्वर्ग में गई हैं वही कहती हैं। आत्मा को तो सब याद रहता है ना। अब तुमको ऊंचे ते ऊंचा बाप पढ़ा रहे हैं, जिससे तुम ऊंचे से ऊंचा पद पा रहे हो। नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार – नर से नारायण जरूर बनेंगे।

यह जो शान्ति मांगते हैं, तुम्हारा काम है उन्हें समझाना। कई समझते भी हैं कि यह एक्यूरेट कहते हैं। वह समय भी आयेगा, लिखा हुआ है कुमारियों द्वारा भीष्म पितामह आदि को ज्ञान के बाण मारे। बाकी ऐसे नहीं अर्जुन ने बाण मारा, गंगा निकली। ऐसी-ऐसी बातें सुनकर कह देते हैं यहाँ से गंगा निकल आई। गऊमुख भी बनाया है। अभी तुम बच्चे देखते हो तुम्हारा यादगार भी खड़ा है। वह जड़ देलवाडा, यह है चैतन्य। उसमें ऊपर वैकुण्ठ दिखाया है। नीचे तपस्या कर रहे हैं, ऊपर राजाई के चित्र हैं इसलिए मनुष्य समझते हैं स्वर्ग ऊपर है। बाम्बस बनाने वाले खुद भी समझते हैं यह हमारे ही विनाश के लिए हैं। कहते हैं ऐसे करेंगे तो जरूर विनाश होगा। लिखा भी हुआ है महाभारी लड़ाई में ऐसे हुआ था, सब खत्म हुए थे। सतयुग में है ही एक धर्म तो जरूर बाकी सब खत्म हो जायेंगे। यह भी बच्चे जानते हैं भक्ति करते-करते नीचे उतरते ही आते हैं, ड्रामा प्लैन अनुसार। वास्तव में यहाँ कोई आशीर्वाद आदि की बात नहीं है। जो ड्रामा में बना हुआ है वही होता है। कुछ ऐसी बात हो जाती है तो मनुष्य कह देते हैं जो ईश्वर की इच्छा। तुम ऐसे नहीं कहेंगे। तुम तो कहते हो भावी ड्रामा की। तुम ईश्वर की भावी नहीं कहेंगे। ईश्वर का भी ड्रामा में पार्ट है। सृष्टि चक्र कैसे फिरता है, यह भी बाप ही समझा सकते हैं। नॉलेजफुल भी बाप है। मनुष्य समझते हैं वह सबकी दिलों को जानते हैं। परन्तु हम जो करते हैं, उनका दण्ड तो जरूर हमको मिलेगा। बाप थोड़ेही बैठ दण्ड देंगे। यह ऑटोमेटिक बना बनाया ड्रामा है, जो चलता रहता है। इनके आदि-मध्य-अन्त का राज़ बाप ही समझाते हैं। तुम फिर औरों को समझाते हो। अब बाप कहते हैं बच्चे, तुम्हारी अवस्था ऐसी हो जो पिछाड़ी में कुछ भी याद न आये। अपने को आत्मा समझें, इसको कहा जाता है कर्मातीत अवस्था। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्कॉलरशिप लेने के लिए अच्छी तरह से पुरुषार्थ करो। टीचर बन औरों को राजयोग सिखाओ। गाइड बन सबको घर का रास्ता दिखाने की सेवा करो।

2) सर्वशक्तिमान् बाप की याद से अपनी बैटरी चार्ज करनी है। बाप से प्रतिज्ञा करने के बाद कभी काम की चोट नहीं खानी है।

वरदान:- हज़ूर को सदा साथ रख कम्बाइन्ड स्वरूप का अनुभव करने वाले विशेष पार्टधारी भव
बच्चे जब दिल से कहते हैं बाबा तो दिलाराम हाज़िर हो जाता है इसीलिए कहते हैं हजूर हाज़िर है और विशेष आत्मायें तो हैं ही कम्बाइन्ड। लोग कहते हैं जिधर देखते हैं उधर तू ही तू है और बच्चे कहते हैं हम जो भी करते हैं, जहाँ भी जाते हैं बाप साथ ही है। कहा जाता है करनकरावनहार, तो करनहार और करावनहार कम्बाइन्ड हो गया। इस स्मृति में रहकर पार्ट बजाने वाले विशेष पार्टधारी बन जाते हैं।
स्लोगन:- स्वयं को इस पुरानी दुनिया में गेस्ट समझकर रहो तो पुराने संस्कारों और संकल्पों को गेट आउट कर सकेंगे।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

समय प्रमाण अब ब्रह्मा बाप समान सदा अचल-अडोल सर्व खजानों से सम्पन्न बनो। थोड़ा भी डगमग हुए तो सर्व खजानों का अनुभव नहीं होगा। बाप द्वारा कितने खजाने मिले हैं, उन खजानों को सदा कायम रखने का साधन है सदा अचल अडोल रहना। अचल रहने से सदा ही खुशी की अनुभूति होती रहेगी।

TODAY MURLI 29 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 January 2019 :- Click Here

29/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you now have to go to the towers of peace and happiness and you therefore have to continue to transform and reform your old natures and character s.
Question: What is the way for your head to be constantly refreshed?
Answer: Churn the things that the Father tells you. By churning the ocean of knowledge, your head becomes refreshed. Those who are always refreshed are also able to serve others. Their batter ies remain constantly charged because, their connection remains with the Almighty Authority Father by churning knowledge.
Song: Show the path to the blind dear God!

Om shanti. This song was sung by human beings, but they don’t know the meaning of it. This is also like a prayer just as they have other prayers. They don’t know the Supreme Soul. If they were to know the Supreme Soul, they would know everything. They speak of the Supreme Soul, but they don’t know His life story at all. So, they are blind, are they not? You have now each received the third eye of knowledge and you are therefore called trinetri. Although people in the world say the words “trinetri, trikaldarshi, trimurti” they don’t know the meaning of them. Similarly, they ask what the connection between science and silence is. Although they ask these questions, they themselves don’t know the answers to them. They say: There should be peace in the world, but when did that exist before? Who brought about peace? They don’t know anything at all. They simply continue to ask these questions, and so there definitely has to be someone who knows this and who could tell you. The Father has explained to you children that this play is predestined. There is the tower of peace, the towerof happiness; there is a tower for everything. The incorporeal world is the tower of peace where we souls reside. That is called the tower of silence. Then, in the golden age, there is the tower of happiness, the tower of peace and prosperity. No one else would actually say that the home of all of us souls is the land of liberation. Only the Father explains all of these things. The Teacher has to be someone like that. He is the Tower of Knowledge. He also takes you to the towers of peace and happiness. This then is the tower of the land of sorrow. People are insolvent in every respect. It is only at this time that you receive your inheritance of purity, peace and happiness. It is the greatness of this most auspicious confluence age. This is called the beneficial age. After the iron age, there is the golden age. That is the tower of happiness. The other is the tower of peace. This is the tower of sorrow. Here, there is plenty of sorrow. All types of sorrow have now come together. It is said: Mountains of sorrow are to fall. When there are earthquakes etc. everyone cries out in distress. The Father has explained that there is little time left. It takes you children time to stay on the pilgrimage of remembrance. There are many who don’t fully understand. Should they consider Him to be a point? What should they consider Him to be? Ah, but as is a soul, so the Supreme Soul. You know what a soul is. It is a lucky star; it is extremely subtle. You cannot see it with these eyes. So, the Father explains all of these things. By churning these things, your heads become refreshed. Wherever you go, you explain: There are the towers of peacehappiness and purity in the new world. The Father transforms your old natures and character sand makes you into the masters of the new world. Although people sing this and they study the Vedas, the scriptures and the Gita etc. they don’t understand anything at all. They continue to come down the ladder. Although they consider themselves to be authorities of the scriptures, they still have to come down. At first, all souls are satopradhan, and then their batter ies gradually discharge. At this time, everyone’s battery is flat. The batter ies are now being charged again. The Father says: Manmanabhav! Consider yourselves to be souls! The Father is the Almighty Authority. By remembering Him, your sins are cut away and the battery becomes full. You now feel that your batter ies are being charged. The batteries of some cannot be charged. Instead of being reformed, they become even more spoilt. They even promise the Father: “Baba, I will never indulge in vice. I will definitely claim my inheritance for 21 births from You”, and yet they fall! The Father says: By conquering the vice of lust, you will become conquerors of the world. If you then indulge in vice, all wisdom is lost. Lust is the greatest enemy. By looking at one another, there is the fire of lust. The Father says: By sitting on the pyre of lust, you have become ugly and I am now making you beautiful. Only the Father explains these things to you. Your intellects opens through this study. People also speak of the tree. This is the kalpa tree. This is the variety tree of the human world. It is called the inverted tree. There is a variety of religions. All the millions of souls have received imperishable parts. No two can have the same part. You have now each received the third eye of knowledge. Just think how many souls there are. It is like a toy fish on a string; they come down the string. This too is like that. We are also tied by the strings of the drama. We have been coming down in this way and the cycle has now come to an end and we have to go back up. It is only now that you children receive this understanding. Souls come down from up above. They are added here, numberwise. You are actors in this play. There is the Creator, Director and principal Actor. Shiv Baba is the principal One. Who are the other actors? Brahma, Vishnu and Shankar. People on the path of devotion have made many images, but they don’t know the meaning of them at all. They speak of hundreds of thousands of years. The Father has now come and is giving you all the knowledge. You now understand that you will not have this knowledge in the golden age. Just as the activities continue here, so too, the kingdom of purity, peace and happiness continues there. The Father is wonderful ! He is also such a tiny point! Just as you are souls, in the same way, this one’s soul is also receiving all the knowledge from the Father. Baba would not be any larger. He is a point. You souls are also points. All the knowledge is being imbibed by you souls. The Father will give you this knowledge again after a cycle. It is like a record that has been recorded and which then repeats. A whole part is recorded in the soul. Something wonderful is called nature. Not a single person can be liberated from his part in this eternal drama. Each one of you has to play your part. These are very wonderful matters. When you understand them clearly and imbibe them, your mercury of happiness rises. You are receiving such a scholarship. So, you should make great effort. You have to make others equal to yourselves. All of you are teachers. A teacher teaches you and makes you into a teacher, the same as himself. It isn’t that you also have to become a guru; no. You are teachersbecause you teach Raja Yoga and you will then go back home. Only you understand this. Neither do those people know this nor can they grant salvation. The Bestower of Salvation for All is the one Father. He is also the Liberator and the Guide. When you go from there, the Father doesn’t become your Guide at that time. It is now that the Father becomes your Guide. When you come down from your home, you even forget your home. You are now guides, the Pandavas. You show everyone the path: May you be bodiless. Your name is also the Pandava Army. You are bodily beings. When you are alone, you cannot be called an army. It is when you gain victory over Maya while in a body that you are called an army. People have written things about war. These are unlimited matters. Those people hold conferences etc. and open Sanskrit colleges etc. They spend so much money. By spending so much, they have become almost empty. All the silver, gold and diamonds have finished. Then, everything new will emerge for you. So, while walking and moving around, you children should have a lot of happiness. You have to remember the Father and the inheritance. Your parts continue all the time; they will never end. The Father explains: You do not know your own births. He also tells the account of 84 births to this one who comes first. You children receive a lot of happiness. You will have the towers of health, wealth and happiness and so you should have so much intoxication. The Father is giving us the unlimited inheritance. The closer you come, the more difficulties there will be. The tree has to grow. While a tree is still weak, it easily falls in a storm. This has to happen. The picture of your aim and objective is just in front of you. You cannot keep any other pictures. On the path of devotion, people keep so many pictures. On the path of knowledge, there is just the One. You have the knowledge in your intellects but how could you take a photograph of a point? A soul is a star. These, too, are matters that have to be understood. A soul cannot be seen with these eyes. Many say: Baba, I want to have a vision; I want to see Paradise. However, you cannot become the masters of that just by seeing it. People say that so-and-so has gone to heaven, but they don’t know where heaven is. Only souls who have been to heaven can say this. The soul remembers everything. The highest-on-high Father is now teaching you through which you claim the highest-on-high status. You will definitely become Narayan from an ordinary man, numberwise, according to the effort you make. It is your duty to explain to those who ask for peace. Many people will understand that what you say is accurate. That time will also come. It is written that Bhishampitamai etc. was shot with arrows of knowledge by the kumaris. It wasn’t that Arjuna shot an arrow and the Ganges emerged. When they hear such things, they say that the Ganges emerged there. They have also created a Gaumukh. You children can see that your memorial also exists here. That is the non-living Dilwala and this is the living one. They have shown Paradise up on the ceiling. Down below, they are doing tapasya and the images of the kingdom are up above. Therefore, people believe that heaven is up above. Even those who manufacture bombs understand that they are making them for their own destruction. They say: If we do this, destruction will definitely take place. It is also written that it happened in the same way in the great war. All were destroyed. In the golden age, there is just the one religion and so surely all the rest will be destroyed. You children also know that by performing devotion, they continue to come down, according to the drama plan. In fact, here, there is no question of receiving blessings etc. Whatever is fixed in the drama is what happens. When something unexpected happens, people say that it is the will of God. You would not say that. You would say that it is the destiny of the drama. You would not say that it is the will of God. God too has a part in the drama. Only the Father can explain to you how the world cycle turns. Only the Father is k nowledge -full. People think that He knows what is in the heart of everyone. However, we are the ones who would receive punishment for whatever we do. The Father would not sit and punish you. This is the automatic, predestined drama which continues. Only the Father explains to you the secrets of its beginning, middle and end. You then explain this to others. The Father now says: Children, your stage should be such that you don’t remember anything at the end; you consider yourselves to be souls. This is called the karmateet stage. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to receive a scholarship, make great effort. Become a teacher and teach others Raja Yoga. Become a guide and do the service of showing everyone the path home.
  2. 2. Charge your battery by having remembrance of the Almighty Authority Father. After making a promise to the Father, never be defeated by lust.
Blessing: May you be a special actor who experiences the combined form by constantly keeping the company of the Lord.
When children say “Baba” from their hearts, then Dilaram, the Comforter of Hearts, becomes present and this is why it is said that the Lord is present. Special souls are anyway combined. People say: Wherever I look, I see only You, and you children say: Whatever we do, wherever we go, the Father is with us. He is called Karankaravanhar (One who does and inspires others to do), and so karanhar (one who does) and Karavanhar (One who inspires) are combined. Those who play their parts with this awareness become special actors.
Slogan: Stay in this old world while considering yourself to be a guest and you will be able to say “G et out ! ” to the old sanskars and thoughts.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

According to the time, now become constantly unshakeable, immovable and full of all treasures, the same as Father Brahma. If there is the slightest upheaval you will not be able to experience all treasures. You have received so many treasures from the Father and the means to keep those treasures with you for ever is to remain constantly unshakeable and immovable. By remaining unshakable you will constantly continue to experience happiness

Font Resize