29 december ki murli

TODAY MURLI 29 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 29 December 2020

29/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, at this confluence age, you belong to the Brahmin community. You now have to change from human beings of the land of death into deities of the land of immortality.
Question: On the basis of understanding which knowledge are you children able to have unlimited renunciation?
Answer: You have the accurate knowledge of the drama. You know that, according to the drama, the whole land of death has to be burnt. This world is worth not a penny. We have to become worth a pound. Whatever happens in the drama is going to repeat identically after a cycle. This is why you have unlimited renunciation of the whole world.
Song: You are the fortune of tomorrow.

Om shanti. You children heard a line of the song. The land of immortality is to come. This is the land of death. This is the elevated confluence age in between the land of death and the land of immortality. The Father teaches us now at the confluence age. He teaches souls. Therefore, He says to you children: Sit in soul consciousness! Have the faith that the unlimited Father is teaching you. Our aim and objective is to become Lakshmi and Narayan, to change from human beings of the land of death into deities of the land of immortality. Your ears would never have heard such teachings nor would you ever have seen anyone telling children to sit in soul consciousness. Develop the faith that the unlimited Father is teaching us. Which Father? It is the unlimited Father; it is incorporeal Shiva. You now understand that we are at the elevated confluence age. You have now become part of the Brahmin community. You then have to become deities. Previously, you belonged to the shudra community. The Father comes and changes you from those with stone intellects into those with divine intellects. You were originally those with satopradhan, divine intellects and you are now becoming those once again. You should not say that you were the masters of the golden age. In the golden age, you were the masters of the world. While taking 84 births and coming down the ladder, you changed from satopradhan to sato, rajo and tamo. Originally, when you were satopradhan, your intellects were divine. Then, alloy became mixed into souls. Human beings do not understand this. The Father says: You did not know anything; you only had blind faith. It is called blind faith when you worship someone or remember someone without knowing him. By forgetting your elevated religion and elevated actions, you become corrupt in actions and corrupt in religion. From being in their divine religion, the people of Bharat have become corrupt. The Father explains: In reality, you are the ones who belong to the family path. When those deities become impure, they can no longer be called deities. That is why they changed their name and called themselves Hindus. This also happens according to the dramaplan. Everyone calls out to the one Father: O Purifier come! He is the only Godfather who is free from rebirth. It is not that there is anything without a name or form. The form of a soul and the Supreme Soul is very subtle. A soul is called a star and also a point. Shiva is worshipped but He does not have a body and a soul, a point, cannot be worshipped. Therefore, in order to worship Him, they make a large image of it. They believe that they are worshipping Shiva, but they do not know His name or form. It is only now that the Father comes and explains all of these aspects. The Father says: You do not know about your births. They have told a lie about 8.4 million species. The Father now sits here and explains to you children. You have now become Brahmins and are to become deities. People of the iron age are shudras. The aim and objective of you Brahmins is to become deities from ordinary human beings. This land of death is an impure world. It used to be the new world where the deities ruled. There was only their kingdom. They were the masters of the whole world. The world is now tamopradhan. There are many religions. The deity religion has disappeared. No one knows the history and geography of the world in regard to when or for how long the deities ruled. Only the Father comes and explains this to you. This is the Godfatherly World University whose aim and objective is to make you into the deities of the land of immortality. This is also known as the story of immortality. You become deities and conquer death with this knowledge. You will never be eaten by death there; there is no mention of death there. You are conquering death according to the dramaplan. The people of Bharat make five to ten-year plans. They also believe they are establishing the kingdom of Rama. The unlimited Father too has a plan to create the kingdom of Rama. They are all human beings. Human beings cannot establish the kingdom of Rama. The golden age is known as the kingdom of Rama. No one knows about these things. Human beings perform so much devotion and go on physical pilgrimages. The day means when it is the kingdom of deities in the golden and silver ages. The path of devotion starts in the night. There is no devotion in the golden age. The Father explains about knowledge, devotion and disinterest. There are two types of disinterest. One is that of the hatha yogis of the path of isolation – they leave their homes and go into the forests. You now have to have unlimited renunciation of the whole land of death. The Father says: This whole world is going to be completely burnt. You have to understand the drama very well. It continues to tick away like a louse. Whatever is happening now is going to repeat identically after a cycle of 5000 years. You must understand this very well and have unlimited renunciation. For instance, when someone goes abroad, he asks: “Can I study this knowledge over there?” The Father replies: You can study this knowledge wherever you sit. For this you first have to take the seven days’ course. It is very easy for a soul to understand all of these aspects. When you were the masters of the satopradhan world, you were satopradhan. You have now become tamopradhan. Having taken 84 births, you have become absolutely worth not a penny. How do you become worth a pound? It is now the iron age and it will then definitely become the golden age. The Father explains in such a simple way. You have to understand the seven days’ course: how you became tamopradhan from satopradhan. You became tamopradhan by sitting on the pyre of lust. You now have to sit on the pyre of knowledge and become satopradhan. The history and geography of the world repeat and the cycle continues to turn. It is now the confluence age and it will then be the golden age. You have now become vicious in the iron age. So, how will you become viceless as in the golden age? The Father shows the way to do this. They call out: We have no virtues. Make us full of virtues! Only those who became this a cycle ago will become this again. The Father explains: First, consider yourselves to be souls! A soul leaves a body and takes another. You now have to become soul conscious. It is now that you receive the knowledge of how to become soul conscious. It is not that you are able to remain constantly soul conscious. In the golden age, your bodies will have names. All the activities of Lakshmi and Narayan are carried out through their names. This is now the confluence age when the Father explains. You came bodiless and you have to return bodiless. Consider yourselves to be souls and remember the Father! This is the spiritual pilgrimage. A soul remembers his spiritual Father. It is only by remembering the Father that your sins will be burnt. This is called the fire of yoga. You can remember Him anywhere. In seven days you have to explain how the cycle turns and how we come down the ladder. It is only in this one birth that there is the ascending stage. Murlis are also sent abroad to the children who live there. This is a school. In fact, this is a Godfatherly University. This is the Raj Yoga that is mentioned in the Gita. However, Shri Krishna cannot be God, as even Brahma, Vishnu and Shankar are deities. You are now making effort to become deities again. Prajapita Brahma would also definitely be here; the Father of the People is a human being. People are surely created here. The Father has given a very easy explanation of the meaning of “Hum so”. On the path of devotion, they say that a soul is the Supreme Soul. That is why they say that God is omnipresent. The Father says: It is a soul that is present in everyone. How could I be present in everyone? You call out to Me: O Purifier come and purify us! Incorporeal souls come and take their own chariots. Those are the thrones of all immortal souls. You can call it a throne or a chariot. The Father does not have a chariot of His own. He is remembered as the Incorporeal. He neither has a corporeal body nor a subtle body. Only when the incorporeal One sits in a chariot can He speak. How could He purify the impure without a chariot? The Father says: I, the incorporeal One, come and take this one on loan. It is a temporary loan. He is called “The Lucky Chariot”. The Father makes you children trikaldarshi by explaining the secrets of the beginning, middle and end of the world. No other human beings can know this knowledge. At present, all are atheists. The Father comes and makes you into theists. He has told you the secrets of the Creator and creation. No one else, apart from you, can explain this. You attain such a high status through this knowledge. Only at this time do you Brahmins receive this knowledge. The Father comes now, at the confluence, to give this knowledge. The Father is the only One who grants salvation. No human being can grant salvation to another. All of those gurus belong to the path of devotion. The Satguru is only one. It is of Him that it is said, “Wah Satguru! Wah!” This is called a school. The aim and objective is to become Narayan from an ordinary human being. All of those stories belong to the path of devotion. There is no attainment by studying the Gita. The Father says: I come to teach you children personally. It is through this that you attain that status. The main aspect in this is to become pure. You have to remember the Father. It is in this that Maya creates obstacles. You remember the Father in order to claim your inheritance. This knowledge is sent to all the children. No murli should ever be missed. To miss a murli means to receive an absent mark. Wherever you are, you can still be refreshed by a murli. You have to follow shrimat. The Father explains: Even when you go abroad, you definitely do have to remain pure! You have to be a Vaishnav. There are two types of Vaishnav, true Vaishnavs and the Vallabhcharis who indulge in vice; they are not pure. You become pure and also become part of the dynasty of Vishnu. You remain Vaishnavs there; you do not indulge in vice. That is the land of immortality. This is the land of death where people indulge in vice. You are now going to the land of Vishnu where there are no vices. That is the viceless world. You claim sovereignty over the world with the power of your yoga. Those two sides fight each other and you take the butter from in between them. You are establishing your own kingdom. Give this message to everyone. Even small children have a right to hear this. They are the children of Shiv Baba, and they therefore all have a right to it. Tell everyone: Consider yourself to be a soul! When a mother and father have this knowledge, they will also teach their children to remember Shiv Baba. No one, other than Shiv Baba, is to be remembered. By having remembrance of the One, you become satopradhan from tamopradhan. You need to study very well for this. You can study this even while living abroad. You don’t need any books for this. You can study this while sitting anywhere. You can have remembrance with your intellect. This study is very easy. You receive power by having yoga, remembrance. You are now becoming the masters of the world. The Father purifies you by teaching you Raj Yoga. That is hatha yoga; this is Raj Yoga. You have to take a lot of precautions in this. You have to become full of all virtues like Lakshmi and Narayan. You have to take precautions with your food and drink. You also have to remember the Father so that your sins of many births can be cut away. This is known as easy Raj Yoga to attain the kingdom. If you do not claim the kingdom you become poor. You become elevated by following shrimat fully. You have to become elevated from degraded. For this, you have to remember the Father. You are those who received this knowledge a cycle ago and are receiving it again. There is no other kingdom in the golden age. That is called the land of happiness. This is now the land of sorrow, whereas the place from where we souls come is the land of peace. Shiv Baba is amazed at the activities that human beings perform in this world! People beat their heads so much in order that there should be fewer children born. They don’t understand that that task is only the Father’s task. The Father instantly establishes one religion and inspires the destruction of all others. Those people create so many new drugs for birth control. The Father has only one medicine. One religion has to be established. The time will come when you will all say that you have become pure. Then, there will be no need for any medicine. Baba has given you the medicine of “Manmanabhav”, through which you become pure for 21 births. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a real Vaishnav by remaining pure. Take full precautions about your food and drink. In order to become elevated you definitely have to follow shrimat.
  2. Refresh yourself with a murli. Wherever you live, make effort to become satopradhan. You must never miss a murli for even a day.
Blessing: May you be a loving form and bid farewell to separation for all time.
Whatever the person you love loves, it is loved by yourself (one who loves others): this is the form of love. Let your moving, eating, drinking and living be liked by the one whom you love. Therefore, whatever thoughts you have or actions you perform, first of all, think: Would the Father whom I love like this? Become one who is truly loving (like the Father) and you will become a constant and easy yogi. When you transform the loving form into an equal form, you will receive the blessing of being immortal and you will have bade farewell to separation for all time.
Slogan: Let your nature be easy and your efforts filled with attention.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 29 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

29-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – संगमयुग पर तुम ब्राह्मण सम्प्रदाय बने हो, तुम्हें अब मृत्युलोक के मनुष्य से अमरलोक का देवता बनना है”
प्रश्नः- तुम बच्चे किस नॉलेज को समझने के कारण बेहद का संन्यास करते हो?
उत्तर:- तुम्हें ड्रामा की यथार्थ नॉलेज है, तुम जानते हो ड्रामानुसार अब इस सारे मृत्युलोक को भस्मीभूत होना है। अभी यह दुनिया वर्थ नाट एपेनी बन गई है, हमें वर्थ पाउण्ड बनना है। इसमें जो कुछ होता है वह फिर हूबहू कल्प के बाद रिपीट होगा इसलिए तुमने इस सारी दुनिया से बेहद का संन्यास किया है।
गीत:- आने वाले कल की तुम……..

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत की लाइन सुनी। आने वाला है अमरलोक। यह है मृत्युलोक। अमरलोक और मृत्यु-लोक का यह है पुरुषोत्तम संगमयुग। अब बाप पढ़ाते हैं संगम पर, आत्माओं को पढ़ाते हैं इसलिए बच्चों को कहते हैं आत्म-अभिमानी हो बैठो। यह निश्चय करना है – हमको बेहद का बाप पढ़ाते हैं। हमारी एम ऑब्जेक्ट यह है – लक्ष्मी-नारायण या मृत्युलोक के मनुष्य से अमरलोक का देवता बनना। ऐसी पढ़ाई तो कभी कानों से नहीं सुनी, न किसको कहते हुए देखा जो कहे बच्चों तुम आत्म-अभिमानी हो बैठो। यह निश्चय करो कि बेहद का बाप हमको पढ़ाते हैं। कौन सा बाप? बेहद का बाप निराकार शिव। अभी तुम समझते हो हम पुरुषोत्तम संगमयुग पर हैं। अभी तुम ब्राह्मण सम्प्रदाय बने हो फिर तुमको देवता बनना है। पहले शूद्र सम्प्रदाय के थे। बाप आकर पत्थरबुद्धि से पारसबुद्धि बनाते हैं। पहले सतोप्रधान पारसबुद्धि थे, अब फिर बनते हैं। ऐसे नहीं कहना चाहिए कि सतयुग के मालिक थे। सतयुग में विश्व के मालिक थे। फिर 84 जन्म ले सीढ़ी उतरते-उतरते सतोप्रधान से सतो, रजो, तमो में आये हैं। पहले सतोप्रधान थे तो पारसबुद्धि थे फिर आत्मा में खाद पड़ती है। मनुष्य समझते नहीं। बाप कहते हैं – तुम कुछ नहीं जानते थे। ब्लाइन्डफेथ था। सिवाए जानने के किसकी पूजा करना वा याद करना उसको ब्लाइन्डफेथ कहा जाता है। और अपने श्रेष्ठ धर्म, श्रेष्ठ कर्म को भी भूल जाने से वह कर्म भ्रष्ट, धर्म भ्रष्ट बन पड़ते हैं। भारतवासी इस समय दैवी धर्म से भी भ्रष्ट हैं। बाप समझाते हैं वास्तव में तुम हो प्रवृत्ति मार्ग वाले। वही देवतायें जब अपवित्र बनते हैं तब देवी-देवता कह नहीं सकते इसलिए नाम बदल हिन्दू धर्म रख दिया है। यह भी होता है ड्रामा प्लैन अनुसार। सभी एक बाप को ही पुकारते हैं – हे पतित-पावन आओ। वह एक ही गॉड फादर है जो जन्म-मरण रहित है। ऐसे नहीं कि नाम-रूप से न्यारी कोई चीज़ है। आत्मा का वा परमात्मा का रूप बहुत सूक्ष्म है, जिसको स्टॉर व बिन्दू कहते हैं। शिव की पूजा करते हैं, शरीर तो है नहीं। अब आत्मा बिन्दी की पूजा हो न सके इसलिए उनको बड़ा बनाते हैं पूजा के लिए। समझते हैं शिव की पूजा करते हैं। परन्तु उनका रूप क्या है, वह नहीं जानते। यह सब बातें बाप इस समय ही आकर समझाते हैं। बाप कहते हैं तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। 84 लाख योनियों का तो एक गपोड़ा लगा दिया है। अब बाप तुम बच्चों को बैठ समझाते हैं। अभी तुम ब्राह्मण बने हो फिर देवता बनना है। कलियुगी मनुष्य हैं शूद्र। तुम ब्राह्मणों की एम ऑब्जेक्ट है मनुष्य से देवता बनने की। यह मृत्युलोक पतित दुनिया है। नई दुनिया वह थी, जहाँ यह देवी-देवतायें राज्य करते थे। एक ही इनका राज्य था। यह सारे विश्व के मालिक थे। अभी तो तमोप्रधान दुनिया है। अनेक धर्म हैं। यह देवी-देवता धर्म प्राय: लोप हो गया है। देवी-देवताओं का राज्य कब था, कितना समय चला, यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी कोई नहीं जानते। बाप ही आकर तुमको समझाते हैं। यह है गॉड फादरली वर्ल्ड युनिवर्सिटी, जिसकी एम ऑब्जेक्ट है अमरलोक का देवता बनाना। इनको अमर-कथा भी कहा जाता है। तुम इस नॉलेज से देवता बन काल पर जीत पाते हो। वहाँ कभी काल खा नहीं सकता। मरने का वहाँ नाम नहीं। अभी तुम काल पर जीत पहन रहे हो, ड्रामा के प्लैन अनुसार। भारतवासी भी 5 वर्ष या 10 वर्ष का प्लैन बनाते हैं ना। समझते हैं हम रामराज्य स्थापन कर रहे हैं। बेहद के बाप का भी प्लैन हैं रामराज्य बनाने का। वह तो सब हैं मनुष्य। मनुष्य तो रामराज्य स्थापन कर न सके। रामराज्य कहा ही जाता है सतयुग को। इन बातों को कोई जानते नहीं हैं। मनुष्य कितनी भक्ति करते हैं, जिस्मानी यात्रायें करते हैं। दिन अर्थात् सतयुग-त्रेता में इन देवताओं का राज्य था। फिर रात में भक्ति मार्ग शुरू होता है। सतयुग में भक्ति नहीं होती है। ज्ञान, भक्ति, वैराग्य, यह बाप समझाते हैं। वैराग्य दो प्रकार का है – एक है हठयोगी निवृत्ति मार्ग वालों का, वह घरबार छोड़ जंगल में जाते हैं। अब तुमको तो बेहद का संन्यास करना है, सारे मृत्युलोक का। बाप कहते हैं यह सारी दुनिया भस्मीभूत होने वाली है। ड्रामा को बहुत अच्छी रीति समझना है। जूं मिसल टिक-टिक होती रहती है। जो कुछ होता है फिर कल्प 5 हज़ार वर्ष बाद हूबहू रिपीट होगा। इसको बहुत अच्छी रीति समझकर बेहद का संन्यास करना है। समझो कोई विलायत जाते हैं कहेंगे वहाँ हम यह नॉलेज पढ़ सकते हैं? बाप कहते हैं हाँ कहाँ भी बैठ तुम पढ़ सकते हो। इसमें पहले 7 रोज़ का कोर्स लेना पड़ता है। बहुत सहज है, आत्मा को सिर्फ यह समझना होता है। हम सतोप्रधान विश्व के मालिक थे तब सतोप्रधान थे। अब तमोप्रधान बन गये हैं। 84 जन्मों में बिल्कुल ही वर्थ नाट एपेनी बन पड़े हैं। अब फिर हम पाउण्ड कैसे बनें? अब कलियुग है फिर जरूर सतयुग होना है, बाप कितना सिम्पुल समझाते हैं, 7 दिन का कोर्स समझना है। कैसे हम सतोप्रधान से तमोप्रधान बने हैं। काम चिता पर बैठ तमोप्रधान बने हैं। अब फिर ज्ञान चिता पर बैठ सतोप्रधान बनना है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती है, चक्र फिरता रहता है ना। अभी है संगमयुग फिर सतयुग होगा। अभी हम कलियुगी विशश बने हैं, सो फिर सतयुगी वाइसलेस कैसे बनें? उसके लिए बाप रास्ता बताते हैं। पुकारते भी हैं हमारे में कोई गुण नहीं है। अब हमको ऐसा गुणवान बनाओ। जो कल्प पहले बने थे उन्हों को ही फिर बनना है। बाप समझाते हैं – पहले-पहले तो अपने को आत्मा समझो। आत्मा ही एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। अभी तुमको देही-अभिमानी बनना है। अभी ही तुम्हें देही-अभिमानी बनने की शिक्षा मिलती है। ऐसे नहीं तुम सदैव देही-अभिमानी रहेंगे। नहीं, सतयुग में तो नाम शरीर के रहते हैं। लक्ष्मी-नारायण के नाम पर ही सारी कारोबार चलती है। अभी यह है संगमयुग जबकि बाप समझाते हैं। तुम नंगे (अशरीरी) आये थे फिर अशरीरी बन वापिस जाना है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। यह है रूहानी यात्रा। आत्मा अपने रूहानी बाप को याद करती है। बाप को याद करने से ही पाप भस्म हो जायेंगे, इनको योग अग्नि कहा जाता है। याद तो तुम कहाँ भी कर सकते हो। 7 रोज़ में समझाना होता है। यह सृष्टि चक्र कैसे फिरता है, कैसे हम सीढ़ी उतरते हैं? अब फिर इस एक ही जन्म में चढ़ती कला होती है। विलायत में बच्चे रहते हैं, वहाँ भी मुरली जाती है। यह स्कूल हैं ना। वास्तव में यह है गॉड फादरली युनिवर्सिटी। गीता का ही राजयोग है। परन्तु श्रीकृष्ण को भगवान नहीं कहा जाता। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को भी देवता कहा जाता है। अभी तुम पुरुषार्थ कर फिर सो देवता बनते हो। प्रजापिता ब्रह्मा भी जरूर यहाँ होगा ना। प्रजापिता तो मनुष्य है ना। प्रजा जरूर यहाँ ही रची जाती है। हम सो का अर्थ बाप ने बहुत सहज रीति समझाया है। भक्ति मार्ग में तो कह देते हम आत्मा सो परमात्मा, इसलिए परमात्मा को सर्वव्यापी कह देते। बाप कहते हैं सबमें व्यापक है आत्मा। मैं कैसे व्यापक होऊंगा? तुम मुझे बुलाते ही हो – हे पतित-पावन आओ, हमको पावन बनाओ। निराकार आत्मायें सब आकर अपना-अपना रथ लेती हैं। हर एक अकाल मूर्त आत्मा का तख्त है यह। तख्त कहो अथवा रथ कहो। बाप को तो रथ है नहीं। वह निराकार ही गाया जाता है। न सूक्ष्म शरीर है, न स्थूल शरीर है। निराकार खुद रथ में जब बैठे तब बोल सके। रथ बिगर पतितों को पावन कैसे बनायेंगे? बाप कहते हैं मैं निराकार आकर इनका लोन लेता हूँ। टेप्रेरी लोन लिया है, इनको भाग्यशाली रथ कहा जाता है। बाप ही सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ बताए तुम बच्चों को त्रिकालदर्शी बनाते हैं। और कोई मनुष्य यह नॉलेज जान नहीं सकते। इस समय सब नास्तिक हैं। बाप आकर आस्तिक बनाते हैं। रचयिता-रचना का राज़ बाप ने तुमको बताया है। अब तुम्हारे सिवाए और कोई समझा न सके। तुम ही इस ज्ञान से फिर यह इतना ऊंच पद पाते हो। यह ज्ञान सिर्फ अभी ही तुम ब्राह्मणों को मिलता है। बाप संगम पर ही आकर यह ज्ञान देते हैं। सद्गति देने वाला एक बाप ही है। मनुष्य, मनुष्य को सद्गति दे न सके। वह सब गुरू हैं भक्ति मार्ग के। सतगुरू एक ही है, उनको कहा जाता है वाह सतगुरू वाह! इनको पाठशाला भी कहा जाता है। एम ऑब्जेक्ट नर से नारायण बनने की है। वह सब हैं भक्ति मार्ग की कथायें। गीता से भी कोई प्राप्ति नहीं होती। बाप कहते हैं मैं तुम बच्चों को सम्मुख आकर पढ़ाता हूँ, जिससे तुम यह पद पाते हो। इसमें मुख्य है पवित्र बनने की बात। बाप की याद में रहना है। इसी में ही माया विघ्न डालती है। तुम बाप को याद करते हो अपना वर्सा पाने के लिए। यह नॉलेज सब बच्चों के पास जाती है। कभी भी मुरली मिस न हो। मुरली मिस हुई गोया एबसेन्ट पड़ जाती है। मुरली से कहाँ भी बैठे रिफ्रेश होते रहेंगे। श्रीमत पर चलना पड़े। बाहर में जाते हैं तो बाप समझाते हैं – पवित्र जरूर बनना है, वैष्णव होकर रहना है। वैष्णव भी दो प्रकार के होते हैं, वैष्णव, वल्लभाचारी भी होते हैं परन्तु विकार में जाते हैं। पवित्र तो हैं नहीं। तुम पवित्र बन विष्णुवंशी बनते हो। वहाँ तुम वैष्णव रहेंगे, विकार में नहीं जायेंगे। वह है अमरलोक, यह है मृत्युलोक, यहाँ विकार में जाते हैं। अभी तुम विष्णुपुरी में जाते हो, वहाँ विकार होता नहीं। वह है वाइसलेस वर्ल्ड। योगबल से तुम विश्व की बादशाही लेते हो। वह दोनों आपस में लड़ते हैं, माखन बीच में तुमको मिलता है। तुम अपनी राजधानी स्थापन कर रहे हो। सभी को यही पैगाम देना है। छोटे बच्चों का भी हक है। शिवबाबा के बच्चे हैं ना। तो सबका हक है। सबको कहना है अपने को आत्मा समझो। माँ-बाप में ज्ञान होगा तो बच्चों को भी सिखायेंगे – शिवबाबा को याद करो। सिवाए शिवबाबा के दूसरा न कोई। एक की याद से ही तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। इसमें पढ़ाई बहुत अच्छी चाहिए। विलायत में रहते भी तुम पढ़ सकते हो। इसमें किताब आदि कुछ भी नहीं चाहिए। कहाँ भी बैठे तुम पढ़ सकते हो। बुद्धि से याद कर सकते हो। यह पढ़ाई इतनी सहज है। योग अथवा याद से बल मिलता है। तुम अभी विश्व का मालिक बन रहे हो। बाप राजयोग सिखाकर पावन बनाते हैं। वह है हठयोग, यह है राजयोग। इसमें परहेज बहुत अच्छी रीति चाहिए। इन लक्ष्मी-नारायण जैसा सर्वगुण सम्पन्न बनना है ना। खान पान की भी परहेज चाहिए, और दूसरी बात बाप को याद करना है तो जन्म जन्मान्तर के पाप कट जायेंगे। इसको कहा जाता है सहज राजयोग, राजाई प्राप्त करने के लिए। अगर राजाई न ली तो गरीब बन जायेंगे। श्रीमत पर पूरा चलने से श्रेष्ठ बनेंगे। भ्रष्ट से श्रेष्ठ बनना है। उसके लिए बाप को याद करना है। कल्प पहले भी तुमने ही यह ज्ञान लिया था, जो फिर अब लेते हो। सतयुग में और कोई राज्य नहीं था। उसको कहा जाता है सुखधाम। अभी यह है दु:खधाम और जहाँ से हम आत्मायें आई हैं वह है शान्तिधाम। शिव-बाबा को वन्डर लगता है – दुनिया में मनुष्य क्या-क्या करते हैं! बच्चे कम पैदा हों उसके लिए भी कितना माथा मारते रहते हैं। समझते नहीं यह तो बाप का ही काम है। बाप झट एक धर्म की स्थापना कर बाकी सब अनेक धर्मों का विनाश करा देते हैं, एक धक से। वो लोग कितनी दवाइयां आदि निकालते हैं पैदाइस कम करने लिए। बाप के पास तो एक ही दवाई है। एक धर्म की स्थापना होनी है। वह समय आयेगा सब कहेंगे यह तो पवित्र बन रहे हैं। फिर दवाई आदि की भी क्या दरकार है। तुमको बाबा ने ऐसी दवाई दी है मनमनाभव की, जिससे तुम 21 जन्मों के लिए पवित्र बन जाते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पवित्र बनकर पक्का वैष्णव बनना है। खान-पान की भी पूरी परहेज करनी है। श्रेष्ठ बनने के लिए श्रीमत पर जरूर चलना है।

2) मुरली से स्वयं को रिफ्रेश करना है, कहाँ भी रहते सतोप्रधान बनने का पुरुषार्थ करना है। मुरली एक दिन भी मिस नहीं करनी है।

वरदान:- जुदाई को सदाकाल के लिए विदाई देने वाले स्नेही स्वरूप भव
जो स्नेही को पसन्द है वही स्नेह करने वाले को पसन्द हो – यही स्नेह का स्वरूप है। चलना-खाना-पीना-रहना स्नेही के दिलपसन्द हो इसलिए जो भी संकल्प वा कर्म करो तो पहले सोचो कि यह स्नेही बाप के दिलपसन्द है। ऐसे सच्चे स्नेही बनो तो निरन्तर योगी, सहजयोगी बन जायेंगे। यदि स्नेही स्वरूप को समान स्वरूप में परिवर्तन कर दो तो अमर भव का वरदान मिल जायेगा और जुदाई को सदाकाल के लिए विदाई मिल जायेगी।
स्लोगन:- स्वभाव इज़ी और पुरूषार्थ अटेन्शन वाला बनाओ।

TODAY MURLI 29 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

29/12/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
27/03/85

The karmateet stage

Today, BapDada especially went on a tour to see the children everywhere. You have been going on many tours in every direction on the path of devotion. So, today, BapDada also went on a tour of all the places of the true Brahmins. He saw all the places of the children and also the stages of the children. All the places were decorated in their own different ways. Some were attracting with physical facilities and some were attracting with the vibrations of tapasya. Some were attracting with their renunciation and elevated fortune, that is, they were attracting with their simplicity and greatness – they were attracting with this atmosphere. Some were also seen to be ordinary. Baba saw all varieties of places where there is remembrance of God. What stages did Baba see? In this too, Baba saw the different types of stages of Brahmin children. Father Brahma went to see to what extent children have made their preparations according to the time. Father Brahma said: Children are everready and free from all bondage, they are yogyukt and liberated-in-life. They are just waiting for time. Are you ready to this extent? Is it that your preparations are made and you are just waiting for the time? Bap and Dada had a heart-to-heart conversation. Father Shiva said: While on tour, Baba saw to what extent the children have become free from bondage, to what extent they have become yogyukt, because only a soul who is free from bondage can experience liberation-in-life. Not to have any limited supports means to have stepped away from bondages. If there are any supports of any type, whether small or large, physical or subtle, in your thoughts or in your deeds, you cannot step away from those bondages. So, Father Brahma was especially taken on a tour to be shown this. What did he see?

The majority is free from large bondages. You have stepped away from the bondages and ropes that are clearly visible. However, some extremely subtle bondages and ropes now still remain and these cannot be seen or recognised except with a deep and subtle intellect. Nowadays, scientists are able to see subtle things with a powerful glass. They cannot see them normally. Similarly, with the subtle power of discernment, you can see those subtle bondages or you can recognise them with a deep and subtle intellect. If you look at them superficially, then, because of not seeing or recognising them, you continue to consider yourself to be free from bondage. Father Brahma checked those subtle supports. He saw two types of support.

One is an extremely subtle form of support of service companions. In this too, he saw many types of them. Because of being co-operative in service, because of being instruments for growth in service, because of having some speciality or special virtue, because of there being harmony in terms of a particular sanskar, or because of giving some extra help from time to time, because of such reasons, the external form is that they are co-operative service companions. However, because of having special subservience, a form of subtle attachment is created. What is the result of this? You forget that these are gifts from the Father. You think that So-and-so is a very good co-operative person with a good speciality and is virtuous, but occasionally you forget that it is the Father who made that one like that. If your intellect depends on someone even in your thoughts, then that dependence becomes a support. Because they are co-operative in the corporeal form, then, at a time of need, instead of remembering the Father, you would remember that person. If that physical support entered your awareness for even two to four minutes, would you remember the support of the Father at that time? Secondly, if the link of the pilgrimage of remembrance breaks for even two to four minutes, then, after it has broken, you would need to make effort to connect it again, because it would no longer be constant. Instead of your heart depending on the Comforter of Hearts, it would depend on someone else due to one reason or another. “I like talking to this one. I like sitting with this one.” To say, “this one in particular”, means that something is not quite right. To have the thought, “This one in particular”, means to have something lacking. “In fact, I like everyone, but I like this one better.” To have spiritual love for everyone, to speak to them and to give and take co-operation in service with them is a different matter. Look at their specialities, look at their virtues, but do not put, “Only this one’s virtue is very good” in between that. The words, “Only this one” spoil everything. It is called attachment. Then, even though the external form may be of service, knowledge or yoga, you still say, “I want to have yoga with this one, only this one’s yoga is good”. The words, “Only this one” should not be used. “Only this one can be co-operative in service. I only want this companion.” So, do you understand what a sign of attachment is? Therefore, remove these words “Only this one”. All are good. Look at their specialities. Be co-operative and make them co-operative. For, although it is only to a small extent initially, it then grows and takes on a big, fearsome form. Then, even if you yourself want to become free from that, you cannot, because the string has become very strong. At first it is very subtle, but it then becomes strong and difficult to break. Only the one Father is the Support. No human soul is a support. The Father makes anyone an instrument to be co-operative, but do not forget the One who made that person an instrument. The Father made that person an instrument. When the Father is in the middle, then, because He is there, there is no sin. When the Father is removed from in between, sin is committed. So the first thing about support is this.

The second thing is that you make one physical facility or another your support. “When we have the facilities, there is service.” When there is a little fluctuation with the facilities, service also fluctuates. To use the facilities is a different matter, but to do service that is controlled by the facilities is to make the facilities your support. The facilities are for the growth of service. Therefore, use those facilities for service in that way. Do not make the facilities your support. Only the one Father is the Support. The facilities are temporary. To make physical facilities your support means that, just as the facilities are temporary, your stage too would be similar – sometimes very high, sometimes in the middle and sometimes low; it keeps changing. Your stage would not remain permanent. So, secondly, do not consider temporary facilities to be your support. They are just there in name; they are there for service. Use them for service and become detached. Do not let tour mind be pulled by the attraction of any facilities. So Baba saw that you have made these two types of support your foundation. Since you have to reach your karmateet stage, you have to go beyond and be detached from every person, everything and every bondage of karma. This is called the karmateet stage. To be karmateet doesn’t mean to be detached from karma but to be detached from any bondage of karma. It means to perform action while being detached, that is, to be detached from the karma. The karmateet stage means the stage that is free from bondage, yogyukt and liberated-in-life.

Baba saw in particular that, from time to time, some children become weak in their power of discernment. They are unable to discern and this is why they are deceived. Because they are weak in the power to discern, their intellects’ love is not able to remain stable. Where there is stability, the power to discern automatically increases. To be stable and concentrated means to be constantly lost in love for the one Father. The sign of stability and concentration is that you would experience a stable stage of constantly flying. This doesn’t mean that it is stable only when it is the same speed all the time. Stable means constantly to experience the flying stage – to be stable in that. It means to be able to experience a higher percentage than yesterday. This is called the flying stage. So, the power to discern is absolutely essential for self-progress and for progress in service. Because you are weak in your power to discern, you don’t consider your weakness to be a weakness. Instead, in order to hide your weakness, you either try to prove yourself right or you become stubborn. These two things are special ways of trying to hide something. Internally, you would sometimes realise this too but, because of not fully having the power to discern, you always try to prove yourself to be right and clever. Do you understand? You have to become karmateet, do you not? You want to claim a number, do you not? Therefore, check yourself. Become very yogyukt and imbibe the power to discern. Let your intellect be stable and concentrated and then check yourself. Then, whatever subtle weaknesses there are, you will be able to see them clearly. It should not be that you think, “I am absolutely right. I am moving along very well. I alone will become karmateet”. Otherwise, when the time comes, those subtle bondages will not allow you to fly, they will pull you to themselves. What would you then do at that time? If a person is tied, then, if he wanted to fly, would he be able to fly or would he be brought down? Therefore, let these subtle bondages not become an obstacle to your claiming a number, to your going home with the Father or to your becoming everready. This is why Father Brahma was checking. What you consider to be a support is not a support, but a royal string. Similarly, there is the example of the golden deer. Where did it lead Sita? So, the golden deer is a bondage. To consider those to be gold means to lose your elevated fortune. They are not gold, but they mean to lose out. She lost Rama, that is, she lost the cottage free from sorrow.

Father Brahma has special love for the children and this is why He wants to see the children become everready and free from bondage like him all the time. You saw the scene of being free from bondage, did you not? How long did he take to become everready? Did he become tied in bondage to anyone? Did he remember anyone: “Where is So-and-so”, because she is a service companion? Did he remember that? So, you saw the part of being everready, the part of the karmateet stage. To the extent that he had deep love for the children, so he was accordingly loving and detached. He received the call and he left. However, it was Father Brahma who had the most love for all the children. To the extent that he was loving, accordingly he was detached. You saw him step away from everything. When something you are cooking is nearly ready, it stops sticking to the sides. So, to become complete means to leave the sides. To leave the sides means to have stepped away. The Support is only the one imperishable Support. Do not make any person, any material comfort or possession your support. This is called being karmateet. Do not ever hide anything. When you hide something, it increases even more. That situation is not big, but to the extent that you hide it, the more you increase that situation. The more you try to prove yourself right, the more you increase that situation. The more stubborn you become, the more you increase that situation. Therefore, do not increase that situation, but end it whilst it is still in its small form. It will then be easy and you will be happy. “This situation came up but I overcame it and became victorious.” Therefore, you would have that happiness. Do you understand? You double foreigners are the ones who have the zeal and enthusiasm to attain the karmateet stage, are you not? So, Father Brahma is giving special subtle sustenance to the double-foreign children. This is sustenance of love, not any correction or teaching because Father Brahma created you children by specially invoking you. You have been created through the thoughts of Father Brahma. It is said that Brahma created the world through his thoughts, that such a big world of Brahmins was created through the thoughts of Father Brahma. So, you are the special souls who have been created by the invocation of Father Brahma. So, you are specially loved, are you not? Father Brahma understands that you are those who have the zeal and enthusiasm to make fast efforts and come first. They (Bap and Dada) were speaking about especially decorating everything with the specialities of the double-foreign children. You do ask questions but you also understand quickly because you are especially sensible. This is why the Father is signalling you to become free from bondage and to be loving like Him. It isn’t that He is telling this only to those who are in front of Him. He is telling this to all of you children. The Father has all Brahmin children – whether from this land or abroad – in front of Him. Achcha, today, Baba is having a heart-to-heart conversation. You were told that this year’s result is very good compared to last year’s. This proves that you will grow, that you are souls who will go into the flying stage. A signal to become perfect yogis is given to those who are seen to be worthy of that. Achcha.

To the souls who are constantly free from any bondage of karma and are yogyukt, to the children who constantly make the one Father their Support, to the children who always step away from even subtle weaknesses, to the powerful children who are able to discern with stability and concentration, to the children who step away from a perishable support of any person or possession, to the special children who remain stable in the stage of being liberated-in-life and the karmateet stage, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada speaking to Dadi Nirmal Shanta:

You are the one who always stays with the Father, anyway. Those who have continued to move along with the Father from the beginning – their experience of constant company can never be reduced. This is the promise from childhood. You always have the company and will always continue to move together. So, call it the promise of constant company or call it a blessing, you have received it. Nevertheless, just as the Father comes from the subtle to the corporeal form to fulfil the responsibility of love, in the same way, you children also come here to fulfil the responsibility of your love. It is like that, is it not? Not just in thought, but even in your dreams which, in others words, you call the subconscious – in that stage too, the Father’s company cannot be left behind. You have forged such a firm relationship. It is a relationship of so many births; it is of the whole cycle. It is in this birth that the relationship is forged for the whole cycle. It is just that in this final birth, some children have dispersed to other places for service. Just as these people went abroad, so you all went to Sindh. Some reached one place and others reached another place. If all of them had not gone abroad, how could so many centres have opened? Achcha. You constantly keep the company of the Father, you are Par Dadi, one who fulfils the responsibility of companionship. BapDada is pleased to see the zeal and enthusiasm that children have for service. You are blessed souls. Look, crowds have now begun to gather. When there is further expansion, just see how many crowds there will be. This blessed form of speciality is the foundation that is being laid. What will happen when there are crowds? You will give blessings, you will give drishti. The living idols will become famous from here. In the beginning, people used to call all of you, “goddesses”. In the end too, they will recognize you and call out: “Goddesses, goddesses.” “Salutations to the goddess, salutations to the goddess!” will begin here. Achcha.

Blessing: May you have a right to the first division and achieve success by using the right method and understanding the Godly laws.
One step of courage and you receive multimillion steps of help. “This method is fixed in the dramas a law. If this method were not fixed as a law, everyone would then become the first king of the world. The law of being numberwise is because of this method. Each one can have as much courage and receive help accordingly. Whether you are surrendered or part of a family, you have equal rights and you achieve success by using the right method. Understand this Godly law and finish any games of carelessness, you will then receive a right to the first division.
Slogan: Become an incarnation of economy with regard to the treasure of thoughts.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 29 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 December 2019

29-12-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 27-03-85 मधुबन

कर्मातीत अवस्था

आज बापदादा चारों ओर के बच्चों को विशेष देखने लिए चक्कर लगाने गये। जैसे भक्ति मार्ग में आप सभी ने बहुत बार परिक्रमा लगाई। तो बापदादा ने भी आज चारों ओर के सच्चे ब्राह्मणों के स्थानों की परिक्रमा लगाई। सभी बच्चों के स्थान भी देखे और स्थिति भी देखी। स्थान भिन्न-भिन्न विधिपूर्वक सजे हुए थे। कोई स्थूल साधनों से आकर्षण करने वाले थे, कोई तपस्या के वायब्रेशन से आकर्षण करने वाले थे। कोई त्याग और श्रेष्ठ भाग्य अर्थात् सादगी और श्रेष्ठता इस वायुमण्डल से आकर्षण करने वाले थे। कोई-कोई साधारण स्वरूप में भी दिखाई दिये। सभी ईश्वरीय याद के स्थान भिन्न-भिन्न रूप के देखे। स्थिति क्या देखी? इसमें भी भिन्न-भिन्न प्रकार के ब्राह्मण बच्चों की स्थिति देखी। समय प्रमाण बच्चों की तैयारी कहाँ तक है, यह देखने के लिए ब्रह्मा बाप गये थे। ब्रह्मा बाप बोले-बच्चे सर्व बंधनों से बंधनमुक्त, योगयुक्त, जीवनमुक्त एवररेडी हैं। सिर्फ समय का इन्तजार है। ऐसे तैयार हैं? इन्तजाम हो गया है सिर्फ समय का इन्तजार है? बापदादा की रूहरिहान चली। शिव बाप बोले चक्कर लगाके देखा तो बंधनमुक्त कहाँ तक बने हैं! योगयुक्त कहाँ तक बने हैं? क्योंकि बंधनमुक्त आत्मा ही जीवनमुक्त का अनुभव कर सकती है। कोई भी हद का सहारा नहीं अर्थात् बंधनों से किनारा है। अगर किसी भी प्रकार का छोटा बड़ा स्थूल वा सूक्ष्म मंसा से वा कर्म से हद का कोई भी सहारा है तो बंधनों से किनारा नहीं हो सकता। तो यह दिखाने के लिए ब्रह्मा बाप को आज विशेष सैर कराया। क्या देखा?

मैजारटी बड़े-बड़े बंधनों से मुक्त हैं। जो स्पष्ट दिखाई देने वाले बंधन हैं वा रस्सियाँ हैं उससे तो किनारा कर लिया है। लेकिन अभी कोई-कोई ऐसे अति सूक्ष्म बंधन वा रस्सियाँ रही हुई हैं जिसको महीन बुद्धि के सिवाए देख वा जान भी नहीं सकते हैं। जैसे आजकल के साइंस वाले सूक्ष्म वस्तुओं को पावरफुल ग्लास द्वारा देख सकते हैं। साधारण रीति से नहीं देख सकते। ऐसे सूक्ष्म परखने की शक्ति द्वारा उन सूक्ष्म बंधनों को देख सकते वा महीन बुद्धि द्वारा जान सकते हैं। अगर ऊपर-ऊपर के रूप से देखे तो न देखने वा जानने के कारण वह अपने को बंधनमुक्त ही समझते रहते हैं। ब्रह्मा बाप ने ऐसे सूक्ष्म सहारे चेक किये।

सबसे ज्यादा सहारा दो प्रकार का देखा, एक अति सूक्ष्म स्वरूप किसी न किसी सेवा के साथी का सूक्ष्म सहारा देखा, इसमें भी अनेक प्रकार देखे। सेवा के सहयोगी होने के कारण, सेवा में वृद्धि करने के निमित्त बने हुए होने के कारण या विशेष कोई विशेषता, विशेष गुण होने के कारण, विशेष कोई संस्कार मिलने के कारण वा समय प्रति समय कोई एकस्ट्रा मदद देने के कारण, ऐसे कारणों से, रूप सेवा का साथी है, सहयोगी है लेकिन विशेष झुकाव होने के कारण सूक्ष्म लगाव का रूप बनता जाता है। इसका परिणाम क्या होता है? यह भूल जाते हैं कि यह बाप की देन है। समझते हैं यह बहुत अच्छा सहयोगी है, अच्छा विशेषता स्वरूप है, गुणवान है। लेकिन समय प्रति समय बाप ने ऐसा अच्छा बनाया है, यह भूल जाता है। संकल्प मात्र भी किसी आत्मा के तरफ बुद्धि का झुकाव है तो वह झुकाव सहारा बन जाता है। तो साकार रूप में सहयोगी होने के कारण समय पर बाप के बदले पहले वह याद आयेगा। दो चार मिनट भी अगर स्थूल सहारा स्मृति में आया तो बाप का सहारा उस समय याद होगा? दूसरी बात अगर दो चार मिनट के लिए भी याद की यात्रा का लिंक टूट गया तो टूटने के बाद जोड़ने की फिर मेहनत करनी पड़ेगी क्योंकि निरन्तर में अन्तर पड़ गया ना! दिल में दिलाराम के बदले और किसी की तरफ किसी भी कारण से दिल का झुकाव होता है, इससे बात करना अच्छा लगता है, इससे बैठना अच्छा लगता है “इसी से ही”, शब्द माना दाल में काला है। “इसी से ही” का ख्याल आना माना हीनता आई। ऐसे तो सब अच्छे लगते हैं लेकिन इससे ज्यादा अच्छा लगता है! सबसे रूहानी स्नेह रखना, बोलना या सेवा में सहयोग लेना वा देना वह दूसरी बात है। विशेषता देखो, गुण देखो लेकिन इसी का ही यह गुण बहुत अच्छा है, यह “ही” बीच में नहीं लाओ। यह “ही” शब्द गड़बड़ करता है, इसको ही लगाव कहा जाता है। फिर चाहे बाहर का रूप सेवा हो, ज्ञान हो, योग हो, लेकिन जब इसी से “ही” योग करना है, इसका ही योग अच्छा है! यह “ही” शब्द नहीं आना चाहिए। ये ही सेवा में सहयोगी हो सकता है। ये ही साथी चाहिए…तो समझा लगाव की निशानी क्या है! इसलिए यह “ही” निकाल दो। सभी अच्छे हैं। विशेषता देखो। सहयोगी बनो भी, बनाओ भी लेकिन पहले थोड़ा होता है फिर बढ़ते-बढ़ते विकराल रूप हो जाता है। फिर खुद ही उससे निकलना चाहते तो निकल नहीं सकते क्योंकि पक्का धागा हो जाता है। पहले बहुत सूक्ष्म होता फिर पक्का हो जाता है तो टूटना मुश्किल हो जाता। सहारा एक बाप है। कोई मनुष्य आत्मा सहारा नहीं है। बाप किसको भी सहयोगी निमित्त बनाता है लेकिन बनाने वाले को नहीं भूलो। बाप ने बनाया है। बाप बीच में आने से जहाँ बाप होगा वहाँ पाप नहीं! बाप बीच से निकल जाता तो पाप होता है। तो एक बात है यह सहारे की।

दूसरी बात-कोई न कोई साकार साधनों को सहारा बनाया है। साधन हैं तो सेवा है। साधन में थोड़ा नीचे ऊपर हुआ तो सेवा भी नीचे ऊपर हुई। साधनों को कार्य में लगाना वह अलग बात है। लेकिन साधनों के वश हो सेवा करना यह है साधनों को सहारा बनाना। साधन सेवा की वृद्धि के लिए हैं इसलिए उन साधनों को उसी प्रमाण कार्य में लाओ, साधनों को आधार नहीं बनाओ। आधार एक बाप है, साधन तो विनाशी हैं। विनाशी साधनों को आधार बनाना अर्थात् जैसे साधन विनाशी हैं वैसे स्थिति भी कभी बहुत ऊंची कभी बीच की, कभी नीचे की बदलती रहेगी। अविनाशी एकरस स्थिति नहीं रहेगी। तो दूसरी बात-विनाशी साधनों को सहारा, आधार नहीं समझो। यह निमित्त मात्र है। सेवा के प्रति है। सेवा अर्थ कार्य में लगाया और न्यारे। साधनों के आकर्षण में मन आकर्षित नहीं होना चाहिए। तो यह दो प्रकार के सहारे सूक्ष्म रूप में आधार बना हुआ देखा। जब कर्मातीत अवस्था होनी है तो हर व्यक्ति, वस्तु, कर्म के बन्धन से अतीत होना, न्यारा होना इसको ही कर्मातीत अवस्था कहते हैं। कर्मातीत माना कर्म से न्यारा हो जाना नहीं। कर्म के बन्धनों से न्यारा। न्यारा बनकर कर्म करना अर्थात् कर्म से न्यारे। कर्मातीत अवस्था अर्थात् बंधनमुक्त, योग-युक्त, जीवनमुक्त अवस्था!

और विशेष बात यह देखी कि समय प्रति समय परखने की शक्ति में कई बच्चे कमजोर हो जाते हैं। परख नहीं सकते हैं इसलिए धोखा खा लेते हैं। परखने की शक्ति कमजोर होने का कारण है बुद्धि की लगन एकाग्र नहीं है। जहाँ एकाग्रता है वहाँ परखने की शक्ति स्वत: ही बढ़ती है। एकाग्रता अर्थात् एक बाप के साथ सदा लगन में मगन रहना। एकाग्रता की निशानी सदा उड़ती कला के अनुभूति की एकरस स्थिति होगी। एक-रस का अर्थ यह नहीं कि वही रफ्तार हो तो एकरस है। एकरस अर्थात् सदा उड़ती कला की महसूसता रहे, इसमें एकरस। जो कल था उससे आज परसेन्टेज में वृद्धि का अनुभव करें। इसको कहा जाता है उड़ती कला। तो स्व उन्नति के लिए, सेवा की उन्नति के लिए परखने की शक्ति बहुत आवश्यक है। परखने की शक्ति कमजोर होने के कारण अपनी कमजोरी को कमजोरी नहीं समझते हैं। और ही अपनी कमजोरी को छिपाने के लिए या सिद्ध करेंगे या जिद्द करेंगे। यह दो बातें छिपाने का विशेष साधन है। अन्दर में कभी महसूस भी होगा लेकिन फिर भी पूरी परखने की शक्ति न होने के कारण अपने को सदा राइट और होशियार सिद्ध करेंगे। समझा! कर्मातीत तो बनना है ना। नम्बर तो लेना है ना इसलिए चेक करो। अच्छी तरह से योगयुक्त बन परखने की शक्ति धारण करो। एकाग्र बुद्धि बन करके फिर चेक करो। तो जो भी सूक्ष्म कमी होगी वह स्पष्ट रूप में दिखाई देगी। ऐसा न हो जो आप समझो मैं बहुत राइट, बहुत अच्छी चल रही हूँ। कर्मातीत मैं ही बनूँगी और जब समय आवे तो यह सूक्ष्म बंधन उड़ने न देवें। अपनी तरफ खींच लेवें। फिर समय पर क्या करेंगे? बंधा हुआ व्यक्ति अगर उड़ना चाहे तो उड़ेगा वा नीचे आ जोयगा! तो यह सूक्ष्म बंधन समय पर नम्बर लेने में वा साथ चलने में वा एवररेडी बनने में बंधन न बन जाएं इसलिए ब्रह्मा बाप चेक कर रहे थे। जिसको यह सहारा समझते हैं वह सहारा नहीं है लेकिन वह रॉयल धागा है। जैसे सोनी हिरण का मिसाल है ना। सीता को कहाँ ले गया! तो सोना हिरण यह बंधन है, इसको सोना समझना माना अपने श्रेष्ठ भाग्य को खोना। सोना नहीं है खोना है। राम को खोया, अशोक वाटिका को खोया।

ब्रह्मा बाप का बच्चों से विशेष प्यार है इसलिए ब्रह्मा बाप सदा बच्चों को अपने समान एवररेडी बंधनमुक्त देखने चाहते हैं। बंधनमुक्त का ही नजारा देखा ना! कितने में एवररेडी हुआ! किसी के बंधन में बंधा! कोई याद आया कि फलानी कहाँ है! फलानी सेवा की साथी है। याद आया? तो एवररेडी का पार्ट कर्मातीत स्टेज का पार्ट देखा ना! जितना ही बच्चों से अति प्यार रहा उतना ही प्यारा और न्यारा देखा ना! बुलावा आया और गया। नहीं तो सबसे ज्यादा बच्चों से प्यार ब्रह्मा का रहा ना! जितना प्यारा उतना न्यारा। किनारा करना देख लिया ना। कोई भी चीज़ अथवा भोजन जब तैयार हो जाता है तो किनारा छोड़ देता है ना! तो सम्पूर्ण होना अर्थात् किनारा छोड़ना। किनारा छोड़ना माना किनारे हो गये। सहारा एक ही अविनाशी सहारा है। न व्यक्ति को, न वैभव वा वस्तु को सहारा बनाओ। इसको ही कहते हैं-कर्मातीत। छिपाओ कभी नहीं। छिपाने से और वृद्धि को पाता जाता है। बात बड़ी नहीं होती। लेकिन जितना छिपाते हैं उतना बात को बड़ा करते हैं। जितना अपने को राइट सिद्ध करने का प्रयत्न करते हैं उतना बात को बढ़ाते हैं। जितना जिद्द करते हैं उतना बात बढ़ाते हैं इसलिए बात को बड़ा न कर छोटे रूप से ही समाप्त करो। तो सहज होगा और खुशी होगी। यह बात हुई, यह भी पार किया, इसमें भी विजयी बने तो यह खुशी होगी। समझा! विदेशी कर्मातीत अवस्था को पाने वाले उमंग उत्साह वाले हैं ना! तो डबल विदशी बच्चों को ब्रह्मा बाप विशेष सूक्ष्म पालना दे रहे हैं। यह प्यार की पालना है शिक्षा सावधानी नहीं। समझा! क्योंकि ब्रह्मा बाप ने आप बच्चों को विशेष आह्वान से पैदा किया। ब्रह्मा के संकल्प से आप पैदा हुए हो। कहते हैं ना – ब्रह्मा ने संकल्प से सृष्टि रची। ब्रह्मा के संकल्प से यह ब्राह्मणों की इतनी सृष्टि रच गई ना। तो ब्रह्मा के संकल्प से आह्वान से रची हुई विशेष आत्मायें हो। लाडले हो गये ना। ब्रह्मा बाप समझते हैं कि यह फास्ट पुरूषार्थ कर फर्स्ट आने के उमंग-उत्साह वाले हैं। विदेशी बच्चों की विशेषताओं से विशेष श्रृंगार करने की बातें चल रही हैं। प्रश्न भी करेंगे, फिर समझेंगे भी जल्दी, विशेष समझदार हो इसलिए बाप अपने समान सब बंधनों से न्यारे और प्यारे बनने के लिए इशारा दे रहे हैं। ऐसा नहीं कि जो सामने हैं उन्हों को बता रहे हैं, सभी बच्चों को बता रहे हैं। बाप के आगे सदा सभी ब्राह्मण बच्चे चाहे देश के चाहे विदेश के सब हैं। अच्छा-आज रूह-रूहाण कर रहे हैं। सुनाया ना-अगले वर्ष से इस वर्ष की रिजल्ट बहुत अच्छी है। इससे सिद्ध है वृद्धि को पाने वाले हैं। उड़ती कला में जाने वाली आत्मायें हो। जिसको योग्य देखा जाता है उनको सम्पूर्ण योगी बनाने का इशारा दिया जाता है। अच्छा!

सदा कर्मबंधन मुक्त, योगयुक्त आत्माओं को सदा एक बाप को सहारा बनाने वाले बच्चों को सदा सूक्ष्म कमजोरियों से भी किनारा करने वाले बच्चों को, सदा एकाग्रता द्वारा परखने के शक्तिशाली बच्चों को, सदा व्यक्ति वा वस्तु के विनाशी सहारे से किनारे करने वाले बच्चों को ऐसे बाप समान जीवनमुक्त कर्मातीत स्थिति में स्थित रहने वाले विशेष बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते!

निर्मलशान्ता दादी से:- सदा बाप के साथ रहने वाले तो हैं ही। जो आदि से बाप के संग-संग चल रहे हैं, उन्हों का सदा साथ का अनुभव कभी भी कम हो नहीं सकता। बचपन का वायदा है। तो सदा साथ हैं और सदा साथ चलेंगे। तो सदा साथ का वायदा कहो या वरदान कहो, मिला हुआ है। फिर भी जैसे बाप प्रीति की रीति निभाने अव्यक्त से व्यक्त रूप में आते हैं वैसे बच्चे भी प्रीत की रीति निभाने के लिए पहुंच जाते हैं। ऐसे है ना! संकल्प में तो क्या लेकिन स्वप्न में भी, जिसको सबकानशियस कहते हैं… उस स्थिति में भी बाप का साथ कभी छूट नहीं सकता। इतना पक्का सम्बन्ध जुटा हुआ है। कितने जन्मों का सम्बन्ध है। पूरे कल्प का है। सम्बन्ध इस जन्म के हिसाब से पूरा कल्प ही रहेगा। यह तो अन्तिम जन्म में कोई-कोई बच्चे सेवा के लिए कहाँ-कहाँ बिखर गये हैं। जैसे यह लोग विदेश में पहुंच गये, आप लोग सिन्ध में पहुंच गये। कोई कहाँ पहुंचे, कोई कहाँ पहुंचे। अगर यह विदेश में नहीं पहुंचते तो इतने सेन्टर कैसे खुलते। अच्छा सदा साथ रहने वाली, साथ का वायदा निभाने वाली परदादी हो! बापदादा बच्चों की सेवा का उमंग-उत्साह देख खुश होते हैं। वरदानी आत्मायें बनी हो। अभी से देखो भीड़ लगनी शुरू हो गई है। जब और वृद्धि होगी तो कितनी भीड़ होगी। यह वरदानी रूप की विशेषता की नींव पड़ रही है। जब भीड़ हो जाये फिर क्या करेंगे। वरदान देंगे, दृष्टि देंगे। यहाँ से ही चैतन्य मूर्तियां प्रसिद्ध होंगी। जैसे शुरू में आप लोगों को सब देवियां-देवियां कहते थे.. अन्त में भी पहचान कर देवियां-देवियां करेंगे। ‘जय देवी, जय देवी’ यहाँ से ही शुरू हो जायेगा। अच्छा!

वरदान:- ईश्वरीय विधान को समझ विधि से सिद्धि प्राप्त करने वाले फर्स्ट डिवीजन के अधिकारी भव
एक कदम की हिम्मत तो पदम कदमों की मदद – ड्रामा में इस विधान की विधि नूंधी हुई है। अगर यह विधि, विधान में नहीं होती तो सभी विश्व के पहले राजा बन जाते। नम्बरवार बनने का विधान इस विधि के कारण ही बनता है। तो जितना चाहे हिम्मत रखो और मदद लो। चाहे सरेन्डर हो, चाहे प्रवृत्ति वाले हो – अधिकार समान है लेकिन विधि से सिद्धि है। इस ईश्वरीय विधान को समझ अलबेलेपन की लीला को समाप्त करो तो फर्स्ट डिवीजन का अधिकार मिल जायेगा।
स्लोगन:- संकल्प के खजाने के प्रति एकानामी के अवतार बनो।

TODAY MURLI 29 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 December 2018 :- Click Here

29/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, imbibe knowledge here and also definitely enable others to imbibe it. In order to pass, you have to become like the mother and father. Tell others whatever you hear here.
Question: Which pure desire that arises in some children is also a sign of good effort?
Answer: If children have the pure desire to follow the mother and father and become seated on their throne, that is a sign of good courage. Those who say, “Baba, I will pass the examination fully”, speak with hope. For that, you too surely have to make that much fast effort.
Song: Our pilgrimage is unique!

Om shanti. All here are sinful souls. Only in heaven are there pure and charitable souls. This is the world of sinful souls. Here, there are sinful souls like Ajamil whereas that is the world of the deities of heaven, the pure and charitable souls. The praise of each is separate. All of those who are Brahmins send Baba their biography of this birth of how many sins they have committed. Baba has everyone’s biography. You children know that you have to listen to the things here and then tell others about them. Very many are needed to tell others. Until you become someone who relates this knowledge to others, you cannot pass. In other spiritual gatherings, they are not bound to listen and then relate it to others. Here, you have to imbibe knowledge and then inspire others to imbibe it; you have to create followers. It isn’t that only one pundit would tell you a story. Here, each and every one has to become like the mother and father. Only when you relate knowledge to others will you be able to pass and be seated in the Father’s heart. Everything about knowledge is explained to you. There, everyone would say: God Krishna speaks. Here, it is said: The Ocean of Knowledge, the Purifier, the Bestower of the Knowledge of the Gita, God Shiva, speaks. Neither Radhe and Krishna nor Lakshmi and Narayan can be called a god or goddess; that isn’t the law. However, God gave them a status and so He would surely make them into a god and goddess which is why they are given that name. You are now making effort to be threaded in the rosary of victory. The rosary is created, is it not? There is Rudra at the beginning. There is the rosary of Rudraksh beads. The rosary of God is being created here. You say: Our pilgrimage is unique. Those people stumble about so much on pilgrimages. Everything of yours is unique. Your intellects’ yoga is with Shiv Baba. You have to become a garland around the neck of Rudra. People don’t understand the significance of the rosary. At the beginning is Shiv Baba, the Tassel, and then there is the dual-bead, Jagadamba and Jagadpita, and then their creation of 108. Baba has seen the very long rosary they have and how everyone pulls its beads while chanting the name, “Rama, Rama!” They don’t have any aim. They turn the beads of the rosary of Rudra and also chant the name of Rama. All of that is the path of devotion. That is still better than other things; they wouldn’t be committing sin for that length of time! Those are methods to be saved from committing sin. Here, there is no question of turning the beads of a rosary. You yourselves have to become beads of the rosary. So, our pilgrimage is unique. We are unadulterated travellers going to our Shiv Baba’s home. All of our sins of many births are being burnt away with yoga. Even if someone were to remember Krishna day and night, his sins could not be absolved. When they chant the name of Rama, they don’t commit sin at that time. Then, afterwards, they begin to commit sin. It isn’t that their sins are cut away or that their lifespans increase. Here, with the power of yoga, the sins of you children are burnt away and your lifespans increase. Your lives become imperishable for birth after birth. To change from a human being to a deity is said to be making your life. There is so much praise of the deities. People call themselves degraded sinners and so everyone would surely be like that. They even sing: I am without virtue, I have no virtues. Have mercy on me! They praise God in this way. He makes you full of all virtues, the same as Shri Krishna. You are now becoming that. There is no praise higher than this. There is an organisation called “Nirgun Balak” (children without virtue). They also don’t understand who is called nirgun (without virtues). You children know that it is Shri Krishna and Lakshmi and Narayan who are praised as: Full of all virtues… You are now once again becoming that. There isn’t any other gathering where they would say this. Here, the Father asks you if you will marry Lakshmi and Narayan or Rama and Sita. You children are not senseless; you instantly reply: Baba, we will pass the examination fully. You are speaking with hope. However, it is not that everyone will become the same. At least you show courage! You say: Mama and Baba are Shiv Baba’s specially beloved children. We will follow them fully and be seated on their throne. This pure desire is good. In that case, you also have to make that much effort. The effort made at this time will become the effort of every cycle. This will be a guarantee. From the effort someone makes at this time, you can tell that he did the same in the previous cycle and that same effort will continue for cycle after cycle. When the examination time comes, you can tell to what extent you will pass. A teacher would also instantly know. This is the Gita Pathshala to change from an ordinary man into Narayan. They would never say in other Gita Pathshalas that they went there to become Narayan from an ordinary man nor would the teacher there say that he will make them into Narayan from an ordinary human being. First of all, the teacher would have to have the intoxication that he will become Narayan from an ordinary man. There are many who give lectures on the Gita but they would never say that they are studying with Shiv Baba. They study with human beings. You know that the Highest on High is the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, who is the k nowledgefull Creator of heaven. He alone comes and makes impure ones pure. Guru Nanak too sang His praise: Remember the Lord and you will receive happiness. You now know that that One is the Highest on High, the true Lord. He Himself says: Remember Me, your Father. I am telling you the true story of immortality and the story of the third eye. Therefore, this is the knowledge of receiving the third eye and of becoming Narayan from an ordinary man. O Parvatis, I, the Lord of Immortality, am telling you the story of immortality. Shiv Baba is the Highest on High, then there are Brahma, Vishnu and Shankar and then Lakshmi and Narayan in heaven. Then the moon-dynasty clan. They continue to come down, numberwise, in this way. Time also goes through the stages of sato, rajo and tamo. No one knows these things. Baba is telling you many deep things. There is an imperishable part in each soul. There is a part recorded for each birth; it is never destroyed. The Father says: My part is recorded. When you reside in the land of happiness, I reside in the land of silence. You have happiness and sorrow in your fortune. I have also explained to you how many births you take in happiness and how many births in sorrow. I am your altruistic Father and I make all of you into the masters of heaven. If I too were to become impure, then who would make you pure? Who would listen to everyone’s call? Who would be called the Purifier? This Father explains that none of the scholars of the Gita are able to explain like this. They explain the meaning of the three worlds in many different ways. People say that you can find the way to meet God through the Vedas and scriptures. The Father says: All of those scriptures are for the path of devotion. The scriptures are not for those on the path of knowledge. I am the Ocean of Knowledge who speaks the knowledge. Everything else is the paraphernalia of the path of devotion. I Myself come and grant everyone salvation with this knowledge. Those people think that a bubble emerges from the water and then merges into it again. However, there is no question of merging. Souls are immortal ; they are never burnt, cut or reduced. The Father gives you an explanation of all of these things. You children should have happiness from the top of your heads to the tip of your toes that you are becoming the masters of the world through the power of yoga. This happiness is also numberwise. It cannot be constant or the same for everyone. Although it is the same examination, at least all should be able to p ass. A kingdom is being established and so He gives you a plan for that. There will be this many thrones (dynasties) in the sun dynasty and this many in the moon dynasty. Those who fail become maids and servants. The maids and servants also later become kings and queens, numberwise. Those who are uneducated receive a status at the end. Baba explains a lot, but if you don’t understand anything, you can ask. Reasoning says: Where would someone then take birth? There, too, there isn’t any less happiness. There, too, they are given great regard; they stay in big palaces. There are huge gardens there. There is no need to build two or three-storey buildings there because there is a lot of land. There is no lack of money and they have a great interest in constructing buildings just as people here have that interest. When they built New Delhi, they thought that it was New Bharat. In fact, heaven is called New Bharat and hell is called old Bharat. However much any of you want there, you can have it, even though it would all be according to the drama. The palaces that were built in the previous cycle will be built again. No one else can understand this knowledge. It will sit in the intellects of those who have it in their fortune. You children have to make effort to stay in yoga fully. People on the path of devotion have been staying in yoga with Shri Krishna, but they didn’t become the masters of heaven. Now, heaven is just in front of you. You know the biography of the Supreme Father, the Supreme Soul, and of Brahma, Vishnu and Shankar. You know how many births Brahma takes. The Father says: You mothers are the ones who open the gates to heaven. All the rest remain in hell. Only the mothers will uplift everyone. We praise God. You understand this and then say: Shiv Baba, namaste to You. You come and make us into heirs, into the masters of heaven. Namaste to such a Shiv Baba. Children say namaste to the Father anyway. Then the Father replies: Namaste. You make Me into the Heir of a few pennies. You make Me into the Heir of shells and I make you into heirs of diamonds. You make Shiva, your Child, your Heir, do you not? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning, namaste, salutations to the masters and salutations to the mothers from the Mother, the Father, BapDada.

Essence for dharna:

  1. Become an unadulterated traveller to Shiv Baba’s home and have your sins burnt away with the power of yoga. Churn knowledge and stay in limitless happiness.
  2. Have the pure desire to be seated on the throne, the same as the father and follow the father fully.
Blessing: May you discern every situation with a clear intellect and make an accurate decision and become an embodiment of success.
To the extent that your intellect is clear, accordingly, you develop the power of discernment. Instead of thinking too much, stay in remembrance of the one Father and remain clear with the Father and you will easily be able to discern every situation and make an accurate decision. Whatever the situation is at any time and whatever the mood is of those who come into contact and relationship with you, to move along accordingly at that time, to discern the situation and take a decision accordingly is a great power which will also make you an embodiment of success.
Slogan: Along with the Father, the Sun of Knowledge, the lucky stars are those who dispel the darkness of the world; they are not those who go into the darkness.

*** Om Shanti ***

Sweet elevated versions of Mateshwari

God is the one who shows the path to those who are blind ,

that is, those who do not have the eye of knowledge.

“Show the path to those who are blind, dear God…. When people sing the song “Show the path to those who are blind, dear God”, it implies that it is only God who can show the path and this is why people call out to God. When they say “God, show us the path”, it is definitely to show the path to human beings that God Himself definitely has to come in the incorporeal form and enter a corporeal form. It is only then that He would be able to show the path in a physical way. He cannot show the path without coming here. People who are confused need to be shown the path and this is why they call out to God: Show the path to those who are blind, dear God. He is then also called the Boatman because He takes us across to the other side, that is, He takes us beyond this world made up of the five elements to the other side, that is, He takes us to the sixth element of the great element of constant light. So, it is only when God comes from that side to this side that He can take us there. So, God has to come from His land and this is why He is called the Boatman. He takes the boats of souls across. He will take with Him those who have yoga with Him. Those who are left will experience punishment from Dharmraj and be liberated later on. Achcha.

BRAHMA KUMARIS MURLI 29 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 December 2018

To Read Murli 28 December 2018 :- Click Here
29-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – यहाँ धारणा कर दूसरों को भी जरूर करानी है, पास होने के लिए मां-बाप समान बनना है, जो सुनते हो वह सुनाना भी है”
प्रश्नः- बच्चों में कौन-सी शुभ कामना उत्पन्न होना भी अच्छे पुरूषार्थ की निशानी है?
उत्तर:- बच्चों में यदि यह शुभ कामना रहती है कि हम मात-पिता को फालो कर गद्दी पर बैठेंगे तो यह भी बहुत अच्छी हिम्मत है। जो कहते हैं-बाबा, हम तो पूरा इम्तहान पास करेंगे, यह भी शुभ बोलते हैं। इसके लिए जरूर पुरूषार्थ भी इतना तीव्र करना है।
गीत:- हमारे तीर्थ न्यारे हैं…. 

ओम् शान्ति। अब यहाँ पाप आत्मायें तो सभी हैं, पुण्य आत्मायें होती ही हैं स्वर्ग में। यह है पाप आत्माओं की दुनिया, यहाँ हैं अजामिल जैसी पाप आत्मायें और वह है स्वर्ग के देवताओं की, पुण्य आत्माओं की दुनिया। दोनों की महिमा अलग-अलग है। हर एक जो ब्राह्मण है वह अपने इस जन्म की जीवन कहानी बाबा पास लिख भेजते हैं कि इतने पाप किये हैं। बाबा के पास सबकी जीवन कहानी है। बच्चों को पता है कि यहाँ सुनना और सुनाना है। तो सुनाने वाले कितने ढेर चाहिए। जब तक सुनाने वाले नहीं बने हैं तब तक पास हो न सकें। और सतसंगों में ऐसे सुनकर फिर सुनाने के लिए बांधे हुए नहीं हैं। यहाँ धारणा कर फिर करानी है, फालोअर्स बनाने हैं। ऐसे नहीं एक ही पण्डित कथा सुनायेगा, यहाँ हर एक को माँ-बाप समान बनना है। औरों को सुनायें तब पास हो और बाप की दिल पर चढ़े। नॉलेज पर ही समझाया जाता है। वहाँ तो सब कहेंगे कृष्ण भगवानुवाच, यहाँ कहा जाता है ज्ञान सागर पतित-पावन गीता ज्ञान दाता शिव भगवानुवाच। राधे-कृष्ण वा लक्ष्मी-नारायण को भगवान्-भगवती नहीं कहा जा सकता, लॉ नहीं। परन्तु भगवान् ने उन्हों को पद दिया है तो जरूर भगवान् भगवती ही बनायेंगे इसलिए नाम पड़ा है। तुम अब विजय माला में पिरोने का पुरूषार्थ कर रहे हो। माला तो बनती है ना। ऊपर में है रूद्र। रूद्राक्ष की माला होती है ना। ईश्वर की माला यहाँ बन रही है। यह कहते हैं हमारे तीर्थ न्यारे हैं। वह तो बहुत धक्के खाते हैं तीर्थों पर। तुम्हारी बात ही न्यारी है। तुम्हारी बुद्धि का योग शिवबाबा के साथ है। रूद्र के गले का हार बनना है। माला के राज़ को भी जानते नहीं। ऊपर में है शिवबाबा फूल, फिर है जगत अम्बा, जगत पिता और उनकी 108 वंशावली। बाबा ने देखा है बहुत बड़ी माला होती है। फिर सभी उसको खींचते हैं। राम-राम कहते हैं। लक्ष्य कुछ नहीं। रूद्र माला फेरते हैं, राम-राम की धुनि लगा देते हैं। यह सब हुआ भक्ति मार्ग। यह फिर भी और बातों से ठीक है, उतना समय कोई पाप नहीं होगा। पापों से बचाने की यह युक्तियां हैं। यहाँ माला फेरने की बात नहीं है। स्वयं माला का दाना बनना है। तो हमारे तीर्थ न्यारे हैं। हम अव्यभिचारी राही हैं-अपने शिवबाबा के घर के। योग से हमारे जन्म-जन्मान्तर के विकर्म भस्म होते हैं। कृष्ण को कोई दिन-रात याद करे परन्तु विकर्म कदापि विनाश हो न सकें। राम-राम कहा तो उस समय पाप नहीं होगा, फिर पाप करने लग पड़ेंगे। ऐसे नहीं, पाप कटते हैं या आयु बढ़ती है। यहाँ योगबल से तुम बच्चों के पाप भस्म होते हैं और आयु बढ़ती है। जन्म-जन्मान्तर के लिए आयु अविनाशी हो जाती है।

मनुष्य से देवता बनना-इसको ही जीवन बनाना कहा जाता है। देवताओं की कितनी महिमा है। अपने को कहेंगे हम नीच पापी हैं… तो जरूर सब ऐसे होंगे। गाते भी हैं मुझ निर्गुण हारे में कोई गुण नाही, आप ही तरस परोई….। यह परमात्मा की महिमा करते हैं। वह तुमको सर्वगुण सम्पन्न श्रीकृष्ण समान बना देते हैं। तुम अब बन रहे हो। इसके आगे कोई गुण नहीं है। एक निर्गुण बालक की संस्था भी है। अर्थ नहीं समझते – निर्गुण किसको कहते हैं। तुम बच्चे जानते हो श्रीकृष्ण वा लक्ष्मी-नारायण के गुणों की ही महिमा गाते हैं सर्वगुण सम्पन्न… अब फिर तुम वह बन रहे हो। और कोई सतसंग ऐसा नहीं होगा जहाँ ऐसे कहें। यहाँ बाप पूछते हैं तुम लक्ष्मी-नारायण को वरेंगे वा राम-सीता को? बच्चे भी बेसमझ तो नहीं हैं। झट कहते हैं बाबा हम तो पूरा इम्तहान पास करेंगे। शुभ बोलते हैं। परन्तु ऐसे नहीं कि सभी एक समान बन सकेंगे। फिर भी हिम्मत दिखाते हैं। मम्मा-बाबा हैं शिवबाबा के मुरब्बी बच्चे। हम उनको पूरा फालो कर गद्दी पर बैठेंगे। यह शुभ कामना अच्छी है। फिर इतना पुरूषार्थ करना चाहिए। इस समय का पुरूषार्थ कल्प-कल्प का बन जायेगा, गैरन्टी हो जायेगी। अब के पुरूषार्थ से पता पड़ेगा कि कल्प पहले भी ऐसे किया था। कल्प-कल्प ऐसा पुरूषार्थ चलेगा। जब इम्तहान होने का समय होता है तो पता पड़ जाता है-हम कहाँ तक पास होंगे। टीचर को तो झट पता लग जाता है। यह है नर से नारायण बनने की गीता पाठशाला और गीता पाठशालाओं में ऐसे कभी नहीं कहेंगे कि हम नर से नारायण बनने आये हैं, ना टीचर ही कह सकते हैं कि मैं नर से नारायण बनाऊंगा। पहले तो टीचर को नशा चाहिए कि मैं भी नर से नारायण बनूँगा। गीता के प्रवचन करने वाले तो ढेर होंगे। परन्तु कहाँ भी ऐसे नहीं कहेंगे कि हम शिवबाबा द्वारा पढ़ते हैं। वो तो मनुष्यों द्वारा पढ़ते हैं। तुम तो जानते हो ऊंच ते ऊंच है परमपिता परमात्मा शिव, जो ही स्वर्ग का रचयिता नॉलेजफुल है, वही आकर पतितों को पावन बनाते हैं। गुरु नानक ने भी उनकी महिमा गाई है – जप साहेब को तो सुख मिले। अब तुम जानते हो ऊंचे से ऊंचा सच्चा साहेब वह है, वह खुद कहते हैं मुझ बाप को याद करो। मैं तुम्हें सच्ची अमरकथा, तीजरी की कथा सुनाता हूँ। तो यह नॉलेज है तीसरा नेत्र मिलने की वा नर से नारायण बनने की। हे पार्वतियां, मैं अमरनाथ तुमको अमरकथा सुना रहा हूँ। ऊंचे से ऊंचा शिवबाबा है फिर ब्रह्मा-विष्णु-शंकर, फिर स्वर्ग में लक्ष्मी-नारायण, फिर चन्द्रवंशी… नम्बरवार चले आओ। समय भी सतो-रजो-तमो होता है। यह बातें कोई भी नहीं जानते। बाबा बहुत गुह्य बातें सुना रहे हैं। आत्मा में अविनाशी पार्ट है। एक-एक जन्म का पार्ट भरा हुआ है। वह कभी विनाश को नहीं पाता है। बाप कहते हैं मेरा पार्ट भरा हुआ है, तुम सुखधाम में रहते हो तो हम शान्तिधाम में हैं। सुख और दु:ख तुम्हारे नसीब में है। सुख और दु:ख में कितने-कितने जन्म मिलते हैं, वह भी समझा दिया है। मैं तुम्हारा निष्कामी बाप हूँ। तुम सबको स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ। अगर मैं भी पतित बनूं तो तुमको पावन कौन बनाये? सभी की पुकार कौन सुने? पतित-पावन किसको कहें? यह बाप समझाते हैं, कोई गीता-पाठी ऐसे नहीं समझा सकते, वो तो त्रिलोकी का अर्थ भिन्न-भिन्न प्रकार से करते हैं। मनुष्य कहते हैं वेद-शास्त्रों से भगवान् से मिलने का रास्ता मिलता है। बाप कहते यह सब शास्त्र हैं भक्ति मार्ग के लिए। ज्ञान मार्ग वालों के लिए शास्त्र हैं नहीं। ज्ञान सुनाने वाला ज्ञान सागर मैं हूँ। बाकी सब है भक्ति मार्ग की सामग्री। मैं ही आकर इस ज्ञान से सर्व को सद्गति देता हूँ। वह तो समझते हैं बुदबुदा पानी से निकल फिर समा जाता है। परन्तु मिलने की तो बात ही नहीं। आत्मा इमार्टल है, वह कभी जलती, कटती, घटती नहीं। बाप इन सभी बातों की समझानी देते हैं। तुम बच्चों को पैर से चोटी तक खुशी रहनी चाहिए – हम योगबल से विश्व के मालिक बन रहे हैं। यह खुशी भी नम्बरवार है। एकरस हो नहीं सकती। इम्तहान भल एक ही है, परन्तु पास भी कर सकें ना। राजधानी स्थापन हो रही है, उसका प्लैन बता देते हैं। सूर्यवंशी में इतनी गद्दी, चन्द्रवंशी में इतनी गद्दी, जो नापास होते हैं वह हैं दास-दासी। दास-दासियों से फिर नम्बरवार राजा-रानी बनते हैं। अनपढ़े अन्त में पद पाते हैं। बाबा समझाते तो बहुत हैं, कुछ भी न समझो तो पूछ सकते हो। विवेक कहता है नहीं तो वह कहाँ जन्म लेते, वहाँ भी कोई कम सुख है क्या। बड़ा मान रहता है। बड़े महलों के अन्दर रहते हैं। बड़े-बड़े बगीचे होते हैं। वहाँ दो तीन मंजिल बनाने की दरकार नही रहती। जमीन बहुत पड़ी रहती है। पैसे की कमी नहीं, बड़ा शौक रहता है बनाने का। जैसे यहाँ मनुष्यों को शौक रहता है ना। न्यू देहली बनाई तो वह समझते, यह नया भारत है। वास्तव में तो नया भारत स्वर्ग को, पुराना भारत नर्क को कहा जाता है। वहाँ जितना जिसको चाहिए… होगा तो सब ड्रामा अनुसार। महल आदि जो कल्प पहले बनाये होंगे, वही बनेंगे। यह ज्ञान दूसरा कोई समझ न सके परन्तु जिसकी तकदीर में है, उनकी बुद्धि में ही बैठता है। बच्चों को पुरूषार्थ करना है, पूरा योग में रहना है। भक्ति मार्ग में श्रीकृष्ण के योग में ही रहते आये, स्वर्ग के मालिक तो बने नहीं। अब तो स्वर्ग तुम्हारे सामने है। तुम परमपिता परमात्मा की बायोग्राफी, ब्रह्मा-विष्णु-शंकर की बायोग्राफी भी जानते हो। ब्रह्मा कितने जन्म लेते हैं, यह तुमको मालूम है।

बाप कहते हैं यह मातायें स्वर्ग का द्वार खोलने वाली हैं, बाकी सब नर्क में पड़े हुए हैं। मातायें ही सबका उद्धार करेंगी। हम परमात्मा की महिमा करते हैं। तुम समझकर कहते हो शिवबाबा आपको नमस्ते। आप आकर हमें वारिस बनाते हैं, स्वर्ग का मालिक बनाते हैं, ऐसे शिवबाबा आपको नमस्ते। बाप को तो बच्चे नमस्ते करते ही हैं। फिर बाप भी कहते-बच्चे नमस्ते। तुम भी मुझे पाई पैसे का वारिस बनाते हो, कौड़ी का वारिस बनाते हो, हम तुमको हीरे का वारिस बनाते हैं। शिव बालक को वारिस बनाते हो ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग, नमस्ते, सलाम मालेकम्। वन्दे मातरम्।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) शिवबाबा के घर का अव्यभिचारी राही बन योगबल से विकर्मों को दग्ध करना है। ज्ञान का सिमरण कर अपार खुशी में रहना है।

2) बाप समान गद्दी नशीन बनने की शुभ कामना रखते हुए बाप को पूरा फालो करना है।

वरदान:- क्लीयर बुद्धि द्वारा हर बात को परख कर यथार्थ निर्णय करने वाले सफलता मूर्त भव
जितनी बुद्धि क्लीयर है उतनी परखने की शक्ति प्राप्त होती है। ज्यादा बातें सोचने के बजाए एक बाप की याद में रहो, बाप से क्लीयर रहो तो हर बात को सहज ही परखकर यथार्थ निर्णय कर सकेंगे। जिस समय जैसी परिस्थिति, जैसा सम्पर्क-सम्बन्ध वाले का मूड, उसी समय पर उस प्रमाण चलना, उसको परखकर निर्णय लेना यह भी बहुत बड़ी शक्ति है जो सफलतामूर्त बना देती है।
स्लोगन:- ज्ञान सूर्य बाप के साथ लकी सितारे वह हैं जो जग से अंधकार को मिटाने वाले हैं, अंधकार में आने वाले नहीं।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य

”नयनहीन अर्थात् ज्ञान नेत्रहीन को राह बताने वाला परमात्मा”

नयनहीन को राह दिखाओ प्रभु … अब यह जो मनुष्य गीत गाते हैं नयनहीन को राह बताओ, तो गोया राह दिखाने वाला एक ही परमात्मा ठहरा, तभी तो परमात्मा को बुलाते हैं और जिस समय कहते हैं प्रभु राह बताओ तो जरुर मनुष्यों को राह दिखाने के लिये खुद परमात्मा को निराकार रूप से साकार रूप में अवश्य आना पड़ेगा, तभी तो स्थूल में राह बतायेगा, आने बिगर राह तो बता नहीं सकेंगे। अब मनुष्य जो मूंझे हुए हैं, उन मूंझे हुए को राह चाहिए इसलिए परमात्मा को कहते हैं नयनहीन को राह बताओ प्रभु… इसको ही फिर खिवैया भी कहा जाता है, जो उस पार अथवा इन 5 तत्वों की जो बनी हुई सृष्टि है इससे पार कर उस पार अर्थात् 5 तत्वों से पार जो छट्ठा तत्व अखण्ड ज्योति महतत्व है उसमें ले चलेगा। तो परमात्मा भी जब उस पार से इस पार आवे तभी तो ले चलेगा। तो परमात्मा को भी अपने धाम से आना पड़ता है, तभी तो परमात्मा को खिवैया कहते हैं। वही हम बोट को (आत्मा रूपी नांव को) पार ले चलता है। अब जो परमात्मा के साथ योग रखता है उनको साथ ले जायेगा। बाकी जो बच जायेंगे वे धर्मराज की सजायें खाकर बाद में मुक्त होते हैं। अच्छा – ओम् शान्ति।

Font Resize