29 august ki murli

TODAY MURLI 29 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 29 August 2020

29/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, imbibe the imperishable jewels of knowledge and, from being poor, now become wealthy. You souls arerup and basant (an embodiment of yoga who showers jewels of knowledge).
Question: What good wishes should you have while constantly making effort?
Answer: Always have these good wishes: I, a soul was satopradhan. I claimed the inheritance of power from the Father and am claiming it once again. Have these good wishes while making effort to become satopradhan. Do not think that not everyone is going to become satopradhan. No, continue to make effort to stay on the pilgrimage of remembrance and take strength from doing service.
Song: Take us away from this land of sin to a place of rest and comfort.

Om shanti. This is a study. Everything has to be understood. All other satsangs etc. belong to the path of devotion. Everyone has become a beggar while doing devotion. Those beggars (fakirs) are different. You are different type of beggars. You were wealthy and have now become fakirs (religious beggars). No one knows that you were wealthy. You Brahmins know that you were wealthy masters of the world. We were wealthy lords and have now become poor lords. You have to study this study well. You have to imbibe these things and try to inspire others to imbibe them. You have to imbibe the imperishable jewels of knowledge. You souls are rup and basant. It is souls that imbibe everything. Bodies are perishable. Anything useless is burnt. When a body is of no further use, it is burnt on a fire. They don’t burn souls. We are souls. All human beings became body conscious when the kingdom of Ravan began. It became firm: I am a body. However, souls are immortal. The Father, the Lord of Immortality, comes and makes souls immortal. There (in the golden age), they shed their bodies according to their own wishes at their own times and take other bodies because each soul is a master. They can shed their bodies when they want. Their bodies have a long lifespan there. There is the example of the snake. You know that those are now the old skins of the last of your many births. You have taken the full 84 births. Some take 60 to 70 births and some take 50 births. The lifespan definitely becomes a little less in the silver age. In the golden age, they have a full lifespan. You now have to make effort to come at the beginning of the golden age. Souls there have power. Therefore, there is no untimely death. It is when their power decreases that their lifespan decreases. Just as the Father is the Almighty Authority, so He makes you souls almighty too. First, you have to become pure and stay in remembrance, for only then will you receive power. You claim your inheritance of power from the Father. Impure souls cannot take power. When souls become charitable, they receive power. Just think: We souls were satopradhan. Always have good wishes. Don’t think that not everyone will become satopradhan and that some will only become sato. No, you must always think that you were satopradhan at first. Only by having this faith will you become satopradhan. You shouldn’t ask how you can become satopradhan. Otherwise, you slip away and don’t stay on the pilgrimage of remembrance. Make as much effort as possible. Consider yourself to be a soul and become satopradhan. At this time, all human beings are tamopradhan. You souls too are tamopradhan. You souls now have to be made satopradhan by having remembrance of the Father. As well as this, if you continue to do service at the same time, you will receive strength. For instance, when someone opens a centre, he receives blessings from many. When a person opens a rest house for pilgrims (dharmashala) anyone can go and rest there. Those souls would be happy, would they not? When those who go to stay there experience rest, the one who built the house receives their blessings. What will the result of that be? That soul will remain happy in his next birth and receive a good home. He will have the happiness of having a good home. It isn’t that he will never fall ill; he will just receive a good home. If someone opened a hospital he would receive good health. If someone opened a university, he would receive a good education. Hospitals etc. will not exist in heaven. Here, you are now creating your reward for 21 births by making effort. However, there won’t be any hospitalscourts or police etc. there. You are now going to the land of happiness. There are no advisers there either. The highest-on-high emperor and empress will not need to take advice from anyone. Advice is taken when you don’t have that much wisdom, when you have fallen into vice. Everyone in the kingdom of Ravan becomes completely senseless and has a degraded intellect. This is why they try to find ways for destruction. They themselves think that they are making the world very elevated when, in fact, they are bringing it down even more. Destruction is now just ahead. You children know that you have to go home. We are serving Bharat and establishing our divine kingdom and we will then rule there. It is remembered: Follow the FatherFather shows son, and son shows the father. You children know that Shiv Baba has now entered the body of Brahma and is teaching us. You have to explain in this way. We don’t consider Brahma to be God or a deity etc. He was impure. The Father has entered an impure body. Look at the picture and see how he is standing at the top of the tree. He is impure. Beneath the tree, he is doing tapasya to become pure and become a deity. Those who are doing tapasya are Brahmins. All of you Brahma Kumars and Kumaris are studying Raj Yoga. It is so clear! You must have very good yoga for this. If you don’t stay in remembrance, you can’t have that power when speaking knowledge. You receive power by having remembrance of Shiv Baba. If you do not become satopradhan by having remembrance, you will experience punishment and claim a low status. The main thing is remembrance, which is known as the ancient yoga of Bharat. No one knows about this knowledge. Previously, the rishis and munis would say that they neither knew the Creator nor the beginning, middle and end of creation. You too didn’t know anything previously. Those five vices completely made you not worth a penny. This old world is now to be burnt and completely destroyed; nothing will remain. All of you are serving Bharat with your bodies, minds and wealth to make it into heaven, numberwise, according to the efforts you make. When people ask you this question at an exhibition, tell them that we BKs are establishing the kingdom of Rama by serving with our bodies, minds and wealth according to shrimat. Gandhiji never said that he was establishing the kingdom of Rama by following shrimat. Here, the Father who is Shri Shri 108 (the most elevated One who creates the 108) is sitting in this one. The rosary of 108 is being created. A big rosary is created, but it is the eight and the 108 in that who make very good efforts. There are many who are numberwise in making very good efforts. When a sacrificial fire of Rudra is created, saligrams are also worshipped. It must definitely be because you did service that you are worshipped. You Brahmins are spiritual servers. You awaken the soul in everyone. When you forget that you are a soul, there is body consciousness. You then think: I am “So-and-so.” No one understands that he is a soul. The name “So-and-so” belongs to a body. No one has the slightest idea about where we souls come from. The consciousness of bodies has become firm while playing our parts here. The Father says: Children, stop making mistakes! Maya is very powerful. You are on a battlefield. Become soul conscious! This is a meeting of souls with the Supreme Soul. It is remembered that souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. No one understands the meaning of that. You souls now understand that you live with the Father. That is the home of souls. The Father also lives there. His name is Shiva. The birthday of Shiva is remembered. No other name should be given to Him. The Father says: My real name is Shiva, the Benefactor. I am not called Rudra, the Benefactor. It is said: Shiva, the Benefactor. There is a temple to Shiva at Kashi. Sadhus go there and chant the mantra: Shiv Kashi Vishwanath Ganga. The Father now explains that Shiva, whose image has been placed in that temple in Kashi, is called Vishwanath (The Lord of the World). However, I am not the Lord of the World. You become lords of the world. I don’t become that. You become lords of the brahm element. That is your home and the other is your kingdom. My only home is the brahm element. Neither do I go to heaven nor do I become the Lord of it. I am just called Shiv Baba. My part is to purify the impure. Sikhs speak of God washing the dirty, impure clothes, but they don’t understand the meaning of that. They sing praise of the incorporeal One, the One who is beyond birth and death. I don’t take 84 births. I enter this one. Human beings take 84 births. This soul knows that Baba is sitting beside me inside this body. In spite of that, I repeatedly forget Him. The soul of this Dada says: I have to make a lot of effort. It isn’t that, because He is sitting with me, I am able to remember Him well; no. We are completely together and I know that He is with me. It is as though He is the master of this body. In spite of that, I still forget Him. I have given this house (body) to Baba for Him to stay in and I am sitting in a corner. So, He is the important Person, is He not? I consider the Master to be sitting next to me. This chariot belongs to Him and He is looking after it. Shiv Baba even feeds me. I am His chariot. He would definitely look after me well. I eat in the happiness of that. Then, after two to four minutes, I forget Him. So, I then understand how much effort you children have to make. This is why Baba continues to explain: Remember the Father as much as possible. There is a lot of benefit in that. Here, they become upset over trivial matters and stop studying. They say, “Baba, Baba,” and then divorce Him! They make the Father belong to them. They relate this knowledge to others. They like this knowledge. They even see heaven in divine visions. They dance there. Then, oho! Maya comes and they divorce Me and run away. They divorce the One who makes them into the masters of the world. Even very important well-known ones divorce Me. You have now been shown the path. It isn’t that He will hold your hand and take you with Him. You are not blind; you have eyes. Yes, you have each received a third eye of knowledge. You know the beginning, the middle and the end of the world. Turn this cycle of 84 births around in your intellects. You are called spinners of the discus of self-realisation. You have to remember the one Father. There should be no remembrance of anyone else. You will have that stage at the end. A wife has love for her husband. That is physical love, whereas, here, you have spiritual love. While sitting, walking and moving around, you have to remember the Husband of all husbands and the Father of all fathers. There are many families in the world where the husband, wife and family all live together with a lot of love for one another. It is as though their home is heaven. Five to six children live together. They wake up early in the morning and do their worshipping. There is no fighting or quarrelling in their home. They remain very stable. In some families, one member of the family might be a follower of Radhaswami and another might not believe in any religion; they become upset over trivial things. So, the Father says: Make full effort in this final birth. Use your money in a worthwhile way and benefit yourself and Bharat too will then be benefitted. You know that you are once again establishing your kingdom by following shrimat. By staying on the pilgrimage of remembrance and knowing the beginning, the middle and the end of the world cycle, we will become the rulers of the globe. We will then begin to come down. Finally, we will again come to Baba. It is only by following shrimat that you can claim a high status. The Father is not putting you on any gallows. He says: First become pure and remember the Father. No one in the golden age is impure. There are very few deities. The population then gradually grows. The tree of deities is small; it then expands so much. All souls continue to come down. This play is predestined. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a spiritual server and do the service of awakening souls. Serve with your body, mind and wealth according to shrimat and become an instrument to establish the kingdom of Rama.
  2. Become a spinner of the discus of self-realization and spin the cycle of 84 births around in your intellect. Only remember the one Father. Don’t remember anyone else. Don’t become upset by anything or stop studying.
Blessing: May you constantly be stable and unshakeable and always have courage and enthusiasm by maintaining aware of the Father and your attainment.
Always keep in front of you a list of all the attainments you have received from the Father from birth. When your attainment is fixed and unshakeable, your courage and enthusiasm also have to be unshakeable. Instead of being unshakeable, if your mind is sometimes mischievous, or if there is some mischief in your stage, the reason for that is that you are not constantly keeping the Father and your attainments in front of you. When the experience of all attainments is always in front of you and in your awareness, all obstacles will then finish. There will always be new zeal and enthusiasm and your stage will be constant and unshakeable.
Slogan: To remain constantly content while doing any type of service means to claim good marks.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 29 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

29-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अविनाशी ज्ञान रत्न धारण कर अब तुम्हें फकीर से अमीर बनना है, तुम आत्मा हो रूप-बसन्त”
प्रश्नः- कौन-सी शुभ भावना रख पुरूषार्थ में सदा तत्पर रहना है?
उत्तर:- सदा यही शुभ भावना रखनी है कि हम आत्मा सतोप्रधान थी, हमने ही बाप से शक्ति का वर्सा लिया था अब फिर से ले रहे हैं। इसी शुभ भावना से पुरुषार्थ कर सतोप्रधान बनना है। ऐसे नहीं सोचना कि सब सतोप्रधान थोड़ेही बनेंगे। नहीं, याद की यात्रा पर रहने का पुरूषार्थ करते रहना है, सर्विस से ताकत लेनी है।
गीत:- इस पाप की दुनिया से……..

ओम् शान्ति। यह है पढ़ाई। हर एक बात समझनी है और जो भी सतसंग आदि हैं, वह सब हैं भक्ति के। भक्ति करते-करते बेगर बन गये हैं। वह बेगर्स फकीर और हैं, तुम और किसम के बेगर्स हो। तुम अमीर थे, अभी फकीर बने हो। यह किसको भी पता नहीं कि हम अमीर थे, तुम ब्राह्मण जानते हो – हम विश्व के मालिक अमीर थे। अमीरचन्द से फकीरचन्द बने हैं। अब यह है पढ़ाई, जिसको अच्छी रीति पढ़ना है, धारण करना है और धारण कराने की कोशिश करनी है। अविनाशी ज्ञान रत्न धारण करने हैं। आत्मा रूप बसन्त है ना। आत्मा ही धारण करती है, शरीर तो विनाशी है। काम की जो चीज़ नहीं होती है, उनको जलाया जाता है। शरीर भी काम का नहीं रहता है तो उनको आग में जलाते हैं। आत्मा को तो नहीं जलाते। हम आत्मा हैं, जबसे रावण राज्य हुआ है तो मनुष्य देह-अभिमान में आ गये हैं। मैं शरीर हूँ, यह पक्का हो जाता है। आत्मा तो अमर है। अमरनाथ बाप आकर आत्माओं को अमर बनाते हैं। वहाँ तो अपने समय पर अपनी मर्जी से एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं क्योंकि आत्मा मालिक है। जब चाहे शरीर छोड़े। वहाँ शरीर की आयु बड़ी होती है। सर्प का मिसाल है। अभी तुम जानते हो यह तुम्हारे बहुत जन्मों के अन्त के जन्म की पुरानी खाल है। 84 जन्म पूरे लिए हैं। कोई के 60-70 जन्म भी हैं, कोई के 50 हैं, त्रेता में जरूर आयु कुछ न कुछ कम हो जाती है। सतयुग में फुल आयु होती है। अब पुरूषार्थ करना है कि हम पहले-पहले सतयुग में आयें। वहाँ ताकत रहती है तो अकाले मृत्यु नहीं होती। ताकत कम होती है तो फिर आयु भी कम हो जाती है। अब जैसे बाप सर्व शक्तिमान् है, तुम्हारी आत्मा को भी शक्तिवान बनाते हैं। एक तो पवित्र बनना है और याद में रहना है तब शक्ति मिलती है। बाप से शक्ति का वर्सा लेते हो। पाप आत्मा तो शक्ति ले न सके। पुण्य आत्मा बनते हैं तो शक्ति मिलती है। यह ख्याल करो – हमारी आत्मा सतोप्रधान थी। हमेशा शुभ भावना रखनी चाहिए। ऐसे नहीं कि सब थोड़ेही सतोप्रधान होंगे। कोई तो सतो भी होंगे ना। नहीं, अपने को समझना चाहिए हम पहले-पहले सतोप्रधान थे। निश्चय से ही सतोप्रधान बनेंगे। ऐसे नहीं कि हम कैसे सतोप्रधान बन सकेंगे। फिर खिसक जाते हैं। याद की यात्रा पर नहीं रहते। जितना हो सके पुरूषार्थ करना चाहिए। अपने को आत्मा समझ सतोप्रधान बनना है। इस समय सब मनुष्य मात्र तमोप्रधान हैं। तुम्हारी आत्मा भी तमोप्रधान है। आत्मा को अब सतोप्रधान बनाना है बाप की याद से। साथ-साथ सर्विस भी करेंगे तो ताकत मिलेगी। समझो कोई सेन्टर खोलते हैं तो बहुतों की आशीर्वाद उन्हों के सिर पर आयेगी। मनुष्य धर्मशाला बनाते हैं कि कोई भी आए विश्राम पाये। आत्मा खुश होगी ना। रहने वालों को आराम मिलता है तो उसका आशीर्वाद बनाने वाले को मिलता है। फिर परिणाम क्या होगा? दूसरे जन्म में वह सुखी रहेगा। मकान अच्छा मिलेगा। मकान का सुख मिलेगा। ऐसे नहीं कि कभी बीमार नहीं होंगे। सिर्फ मकान अच्छा मिलेगा। हॉस्पिटल खोली होगी तो तन्दुरुस्ती अच्छी रहेगी। युनिवर्सिटी खोली होगी तो पढ़ाई अच्छी रहेगी। स्वर्ग में तो यह हॉस्पिटल आदि होती नहीं। यहाँ तुम पुरूषार्थ से 21 जन्मों के लिए प्रालब्ध बनाते हो। बाकी वहाँ हॉस्पिटल, कोर्ट, पुलिस आदि कुछ नहीं होगा। अभी तुम चलते हो सुखधाम में। वहाँ वजीर भी होता नहीं। ऊंच ते ऊंच खुद महाराजा-महारानी, वह वजीर की राय थोड़ेही लेंगे। राय तब मिलती है जब बेअक्ल बनते हैं, जब विकारों में गिरते हैं। रावण राज्य में बिल्कुल ही बेअक्ल तुच्छ बुद्धि बन जाते हैं इसलिए विनाश का रास्ता ढूँढते रहते हैं। खुद समझते हैं हम विश्व को बहुत ऊंच बनाते हैं परन्तु यह और ही नीचे गिरते जाते हैं। अब विनाश सामने खड़ा है।

तुम बच्चे जानते हो हमको घर जाना है। हम भारत की सेवा कर दैवी राज्य स्थापन करते हैं। फिर हम राज्य करेंगे। गाया भी जाता है फालो फादर। फादर शोज़ सन, सन शोज़ फादर। बच्चे जानते हैं – इस समय शिवबाबा ब्रह्मा के तन में आकर हमको पढ़ाते हैं। समझाना भी ऐसे है। हम ब्रह्मा को भगवान वा देवता आदि नहीं मानते। यह तो पतित थे, बाप ने पतित शरीर में प्रवेश किया है। झाड़ में देखो ऊपर चोटी में खड़ा है ना। पतित हैं फिर नीचे पावन बनने के लिए तपस्या कर फिर देवता बनते हैं। तपस्या करने वाले हैं ब्राह्मण। तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ सब राजयोग सीख रहे हो। कितना क्लीयर है। इसमें योग बड़ा अच्छा चाहिए। याद में नहीं रहेंगे तो मुरली में भी वह ताकत नहीं रहेगी। ताकत मिलती है शिवबाबा की याद में। याद से ही सतोप्रधान बनेंगे नहीं तो सज़ायें खाकर फिर कम पद पा लेंगे। मूल बात है याद की, जिसको ही भारत का प्राचीन योग कहा जाता है। नॉलेज का किसको पता नहीं है। आगे के ऋषि-मुनि कहते थे – रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को हम नहीं जानते। तुम भी आगे कुछ नहीं जानते थे। इन 5 विकारों ने ही तुमको बिल्कुल वर्थ नाट ए पेनी बनाया है। अभी यह पुरानी दुनिया जलकर बिल्कुल खत्म हो जानी है। कुछ भी रहने का नहीं है। तुम सब नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार भारत को स्वर्ग बनाने की तन-मन-धन से सेवा करते हो। प्रदर्शनी में भी तुमसे पूछते हैं तो बोलो हम बी.के. अपने ही तन-मन-धन से श्रीमत पर सेवा कर रामराज्य स्थापन कर रहे हैं। गांधी जी तो ऐसे नहीं कहते थे कि श्रीमत पर हम रामराज्य स्थापन करते हैं। यहाँ तो इसमें श्री श्री 108, बाप बैठे हैं। 108 की माला भी बनाते हैं। माला तो बड़ी बनती है। उसमें 8-108 अच्छी मेहनत करते हैं। नम्बरवार तो बहुत हैं, जो अच्छी मेहनत करते हैं। रूद्र यज्ञ होता है तो सालिग्रामों की भी पूजा होती है। जरूर कुछ सर्विस की है तब तो पूजा होती है। तुम ब्राह्मण रूहानी सेवाधारी हो। सबकी आत्माओं को जगाने वाले हो। मैं आत्मा हूँ, यह भूलने से देह-अभिमान आ जाता है। समझते हैं मैं फलाना हूँ। किसको भी यह पता थोड़ेही है – मैं आत्मा हूँ, फलाना नाम तो इस शरीर का है। हम आत्मा कहाँ से आती है – यह ज़रा भी कोई को ख्याल नहीं। यहाँ पार्ट बजाते-बजाते शरीर का भान पक्का हो गया है। बाप समझाते हैं – बच्चे, अब ग़फलत छोड़ो। माया बड़ी जबरदस्त है, तुम युद्ध के मैदान में हो। तुम आत्म-अभिमानी बनो। आत्माओं और परमात्मा का यह मेला है। गायन है आत्मा-परमात्मा अलग रहे बहुकाल। इनका भी अर्थ वह नहीं जानते। तुम अभी जानते हो – हम आत्मायें बाप के साथ रहने वाली हैं। वह आत्माओं का घर है ना। बाप भी वहाँ है, उनका नाम है शिव। शिव जयन्ती भी गाई जाती है, दूसरा कोई नाम देना ही नहीं चाहिए। बाप कहते हैं – मेरा असली नाम है कल्याणकारी शिव। कल्याणकारी रुद्र नहीं कहेंगे। कल्याणकारी शिव कहते हैं। काशी में भी शिव का मन्दिर है ना। वहाँ जाकर साधू लोग मंत्र जपते हैं। शिव काशी विश्वनाथ गंगा। अब बाप समझाते हैं शिव जो काशी के मन्दिर में बिठाया है, उनको कहते हैं – विश्वनाथ। अब मैं तो विश्वनाथ हूँ नहीं। विश्व के नाथ तुम बनते हो। मैं बनता ही नहीं हूँ। ब्रह्म तत्व के नाथ भी तुम बनते हो। तुम्हारा वह घर है। वह राजधानी है। मेरा घर तो एक ही ब्रह्म तत्व है। मैं स्वर्ग में आता नहीं हूँ। न मैं नाथ बनता हूँ। मेरे को कहते ही हैं शिवबाबा। मेरा पार्ट ही है पतितों को पावन बनाने का। सिक्ख लोग भी कहते हैं मूत पलीती कपड़ धोए…… परन्तु अर्थ नहीं समझते। महिमा भी गाते हैं एकोअंकार…… अजोनि यानी जन्म-मरण रहित। मैं तो 84 जन्म लेता नहीं हूँ। मैं इनमें प्रवेश करता हूँ। मनुष्य 84 जन्म लेते हैं। इनकी आत्मा जानती है – बाबा मेरे साथ इकट्ठा बैठा हुआ है तो भी घड़ी-घड़ी याद भूल जाती है। इस दादा की आत्मा कहती है मुझे बहुत मेहनत करनी पड़ती है। ऐसे नहीं कि मेरे साथ बैठा है तो याद अच्छी रहती है। नहीं। एकदम इकट्ठा है। जानता हूँ मेरे पास है। इस शरीर का जैसे वह मालिक है। फिर भी भूल जाता हूँ। बाबा को यह (शरीर) मकान दिया है रहने के लिए। बाकी एक कोने में मैं बैठा हूँ। बड़ा आदमी हुआ ना। विचार करता हूँ, बाजू में मालिक बैठा है। यह रथ उनका है। वह इनकी सम्भाल करते हैं। मुझे शिवबाबा खिलाते भी हैं। मैं उनका रथ हूँ। कुछ तो खातिरी करेंगे। इस खुशी में खाता हूँ। दो-चार मिनट बाद भूल जाता हूँ, तब समझता हूँ बच्चों को कितनी मेहनत होगी इसलिए बाबा समझाते रहते हैं – जितना हो सके बाप को याद करो। बहुत-बहुत फायदा है। यहाँ तो थोड़ी बात में तंग हो पड़ते हैं फिर पढ़ाई को छोड़ देते हैं। बाबा-बाबा कह फारकती दे देते हैं। बाप को अपना बनावन्ती, ज्ञान सुनावन्ती, पशन्ती, दिव्य दृष्टि से स्वर्ग देखन्ती, रास करन्ती, अहो मम माया मुझे फारकती देवन्ती, भागन्ती। जो विश्व का मालिक बनाते उनको फारकती दे देते हैं। बड़े-बड़े नामीग्रामी भी फारकती दे देते हैं।

अभी तुमको रास्ता बताया जाता है। ऐसे नहीं कि हाथ से पकड़कर ले जायेंगे। इन आंखों से तो अन्धे नहीं हैं। हाँ ज्ञान का तीसरा नेत्र तुमको मिलता है। तुम सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। यह 84 का चक्र बुद्धि में फिरना चाहिए। तुम्हारा नाम है स्वदर्शन चक्रधारी। एक बाप को ही याद करना है। दूसरे कोई की याद न रहे। पिछाड़ी में यह अवस्था रहे। जैसे स्त्री का पुरूष से लव रहता है। उनका है जिस्मानी लव, यहाँ तुम्हारा है रूहानी लव। तुम्हें उठते-बैठते, पतियों के पति, बापों के बाप को याद करना है। दुनिया में ऐसे बहुत घर हैं जहाँ स्त्री-पुरूष तथा परिवार आपस में बहुत प्यार से रहते हैं। घर में जैसे स्वर्ग लगा रहता है। 5-6 बच्चे इकट्ठे रहते, सुबह को जल्दी उठ पूजा में बैठते, कोई झगड़ा आदि घर में नहीं। एकरस रहते हैं। कहाँ तो फिर एक ही घर में कोई राधास्वामी के शिष्य होंगे तो कोई फिर धर्म को ही नहीं मानते। थोड़ी बात पर नाराज़ हो पड़ते। तो बाप कहते हैं – इस अन्तिम जन्म में पूरा पुरूषार्थ करना है। अपना पैसा भी सफल कर अपना कल्याण करो। तो भारत का भी कल्याण होगा। तुम जानते हो – हम अपनी राजधानी श्रीमत पर फिर से स्थापन करते हैं। याद की यात्रा से और सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानने से ही हम चक्रवर्ती राजा बन जायेंगे फिर उतरना शुरू होगा। फिर अन्त में बाबा के पास आ जायेंगे। श्रीमत पर चलने से ही ऊंच पद पायेंगे। बाप कोई फाँसी पर नहीं चढ़ाते हैं। एक तो कहते हैं पवित्र बनो और बाप को याद करो। सतयुग में पतित कोई होता नहीं। देवी-देवतायें भी बहुत थोड़े ही रहते हैं। फिर आहिस्ते-आहिस्ते वृद्धि होती है। देवताओं का है छोटा झाड़। फिर कितनी वृद्धि हो जाती है। आत्मायें सब आती रहती हैं, यह बना-बनाया खेल है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) रूहानी सेवाधारी बन आत्माओं को जगाने की सेवा करनी है। तन-मन-धन से सेवा कर श्रीमत पर रामराज्य की स्थापना के निमित्त बनना है।

2) स्वदर्शन चक्रधारी बन 84 का चक्र बुद्धि में फिराना है। एक बाप को ही याद करना है। दूसरे कोई की याद न रहे। कभी किसी बात से तंग हो पढ़ाई नहीं छोड़नी है।

वरदान:- बाप और प्राप्ति की स्मृति से सदा हिम्मत-हुल्लास में रहने वाले एकरस, अचल भव
बाप द्वारा जन्म से ही जो प्राप्तियां हुई हैं उनकी लिस्ट सदा सामने रखो। जब प्राप्ति अटल, अचल है तो हिम्मत और हुल्लास भी अचल होना चाहिए। अचल के बजाए यदि मन कभी चंचल हो जाता है वा स्थिति चंचलता में आ जाती है तो इसका कारण है कि बाप और प्राप्ति को सदा सामने नहीं रखते। सर्व प्राप्तियों का अनुभव सदा सामने वा स्मृति में रहे तो सब विघ्न खत्म हो जायेंगे, सदा नया उमंग, नया हुल्लास रहेगा। स्थिति एकरस और अचल रहेगी।
स्लोगन:- किसी भी प्रकार की सेवा में सदा सन्तुष्ट रहना ही अच्छे मार्क्स लेना है।

TODAY MURLI 29 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 29 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 28 August 2019:- Click Here

29/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the greatest Father does not make you important people make a lot of effort. He says: Just remember two words: Alpha and beta.
Question: What is the spiritual Father’s main task through which He experiences pleasure?
Answer: The spiritual Father’s main task is to purify the impure. The Father experiences great pleasure in purifying you. The Father comes to grant salvation to you children. He makes you all satopradhan because you now have to return home. Simply make this one lesson firm: I am a soul not a body. It is through this lesson that you can have remembrance of the Father and become pure.

Om shanti. The spiritual Father sits and explains to you spiritual children. The Father experiences pleasure in purifying you children. Therefore, He says: Remember the Purifier Father. Only the one Father is the Bestower of Salvation for All; no one else can be this. It is at this time that you understand that you definitely now have to return home. In order to inspire you to make more effort, the Father says that it is essential to have the pilgrimage of remembrance. It is only by having remembrance that you become pure; then you have to study. Firstly, remember Alpha, the Father, and then the kingdom. You are given directions for this. You know how you take 84 births and change from satopradhan to tamopradhan; you come down the ladder. You now have to become satopradhan again. The golden age is the pure world. There, not a single person is impure. These things do not exist in the golden age. The main aspect is to become pure. Now become pure, for only then will you go to the new world and become worthy of claiming a kingdom. Everyone has to become pure. There, no one is impure. Those who make effort to become satopradhan are the ones who will become the masters of the pure world. This is the one main aspect. You have to become satopradhan by having remembrance of the Father. The Father does not make you make a lot of effort. He simply says: Consider yourselves to be souls. He says again and again: Make the one lesson firm: that you are not bodies but souls; that’s all. Important people do not read a lot; they are given the essence. Important people are not given any difficulty. You know how many births it has taken you to change from satopradhan to tamopradhan. It would not be said to be 63 births; it takes 84 births. You have the faith that you were satopradhan, that you were residents of heaven, that is, the masters of the land of happiness. It was the land of happiness which was also called the original eternal deity religion. They too were human beings but they had divine virtues. At this time, human beings have devilish traits. It is written in the scriptures that the kingdom of deities was established after a war took place between the devils and the deities. The Father explains that you were previously devils. The Father came and made you into Brahmins. He shows you the way to change from a Brahmin into a deity. However, there was no question of a war between devils and deities. It has been said of the deities that their religion was the highest religion of non-violence. Deities never fight. There cannot be any question of violence. How could there be a war in the divine kingdom of the golden age? Would the deities of the golden age come here to fight with the devils, or would the devils go there to fight with the deities? Neither is possible. This is the old world; that is the new world. Therefore, how could a war take place? Whatever people listen to on the path of devotion, they continue to say: True, true! Their intellects do not function at all. Their intellects are absolutely like stone. In the iron age, people have stone intellects whereas in the golden age they have divine intellects. That kingdom is of the Lord of Divinity. There is no kingdom here. The kings of the copper age were also impure. They had crowns embedded with jewels; they did not have a crown of light, that is, they were not pure. There, everyone was pure. This does not mean that they had a halo of light above them; no. The halo of light in the pictures is shown to indicate their purity. You too are becoming pure at this time. Where is your light? You know that you become pure by having yoga with the Father. There, there is no trace of vice. The vicious kingdom of Ravan will have been destroyed. Ravan is shown here to prove that it is still the kingdom of Ravan. They burn an effigy of Ravan every year, but he does not get burnt. You are now gaining victory over him and then this Ravan will not exist. You are non-violent. Your victory is through the power of yoga. All your sins of birth after birth are to be absolved through the pilgrimage of remembrance. When do your innumerable births start? When do your sinful acts start? It is you, who belong to the original eternal deity religion, who come first. It decreases by two degrees when those who belong to the sun dynasty become part of the moon dynasty. Then, your degrees gradually decrease. The main thing now is to remember the Father and become satopradhan. Those who became satopradhan in the previous cycle will become that again; they will continue to come. Everyone is numberwise. Then, according to the drama, when they come, they will come, numberwise, in the same way. They will come and take birth. This drama is made in a unique way. You need sense to understand this. Just as you have descended, so you also have to ascend. You will pass numberwise and you will then come down here numberwise. Your aim and objective is to become satopradhan. Not everyone will passfully. After 100 marks, they continue to decrease. This is why you have to make a great deal of effort. It is in making this effort that you fail. It is easy to do service. The way you explain at the museum indicates how much you study. If a head teacher sees that someone is not explaining accurately, he would go and explain; he would go and help him. One or two guards are also given the duty to see whether everyone is explaining accurately or not, or whether they get confused if anyone asks them anything. You understand that service at exhibitions is better than service at a centre and that service at the museum is better than at the exhibition. There is a good display at the museum, and those who see it will go and tell others about it. This will continue till the end. The words “Godfatherly World University” are good. There is no mention of human beings in this. Who inaugurates this? The Father said that when you invite eminent people to come for an inauguration, many others would also come when they hear the names of eminent people. Many will come because of one. This is why the Father wrote to Delhi telling them to print the opinions of important people, so that, when people read them, they will say that all of those important people come to you and give very good opinions. It is good to have those printed. There is no question of magic etc. in this. This is why the Father continues to write that you have to make a book of all the opinions. You should also distribute them here. It is said that the body is false and Maya is also false. Everything is included in this. There are many who say that this is the kingdom of Ravan, the kingdom of the devil. Whoever the kingdom belongs to should be the first one to be concerned. They say: Purify us impure ones! Therefore, everything is included in this state of impurity. Everyone calls out: O Purifier! Therefore, they must surely be impure! You have created an accurate picture in which it shows whether the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Purifier or whether it is the rivers and lakes. There is a pool at Amritsar where all the water becomes dirty, but those people consider it to be a lake of nectar. The maharajas have it cleaned considering it to be a lake of nectar. This is why the name Amritsar has been given. Even the water of the Ganges is considered to be nectar! That water becomes so dirty; don’t even ask! Baba has bathed in those rivers etc. That water is very dirty. People pick up mud from it and rub it on themselves. Baba has experienced this. Baba has adopted an old experienced body. There is no one who is as experienced as this one. He has also had the experience of meeting great kings and viceroys etc. He also used to sell millet and barley. In his childhood, he would become very happy earning four to six annas. Just look where he has now reached! Look what this village urchin has become! The Father also says: I enter an ordinary body. This one did not know of his own births. The Father sits here and explains how he finally became a village urchin after taking 84 births. The divine activities are not of Krishna or Kans (the devil). To break a pitcher of butter, etc. – all of those things that are said about Krishna are false. Just look how simply the Father explains: Sweetest children, as you sit and stand, as you move, simply remember Me alone. I am the Highest on High, the Father of all souls. You know that all of you are brothers and that that One is the Father. All of us brothers remember the one Father. People say, “Oh God! Oh Ishwar! but they don’t know anything. The Father has now given His introduction. According to the drama plan, this is called the age of the Gita because the Father comes at this time and gives you the knowledge through which you become elevated. A soul adopts a body and speaks. The Father too has to take the support of a body to perform His divine, alokik task. For half the cycle, human beings become unhappy and so they call out to Him. The Father only comes once in a cycle. You play your parts again and again. The deity religion is original and eternal but the foundation of it no longer exists; only their images remain. Therefore, the Father says that you too have to become Lakshmi and Narayan. Your aim and objective is in front of you. This is the original eternal deity religion. There is no such religion as the Hindu religion. The name Hindu is taken from Hindusthan. Just as sannyasis refer to the place of residence, the brahm element, as God, in the same way, this land, where they reside, has been referred to as their religion. The Hindu religion is not the original and eternal religion. Hindus go in front of the idols of the deities and bow down to them. They sing praise of those who were once deities. Those same deities have become Hindus. Their religion and actions have become corrupt. All other religions are still in existence but the deity religion has disappeared. Those who were worthy of worship later become worshippers and worship those deities. So much has to be explained to them. So much is also explained about Krishna. He is the first prince of the golden age, and so the 84 births also begin with him. The Father says: I enter this one at the end of the final birth of his many births. Therefore, He would surely tell you about his account. This Lakshmi and Narayan became number one. Therefore, the one who was first then becomes last. There was not only one Krishna; there were also others who were part of the Vishnu dynasty. You know these things very well. You must not forget these things. Museums now continue to be opened and many more will be opened. Many will come. People go to the temples and bow their heads. You also see that when devotees come to you and see the picture of Lakshmi and Narayan, they place money in front of it. You say: Here, it is a question of understanding, not of placing money in front of them. If you were to go to the Shiva Temple now, would you leave money there? You would go with the aim of explaining, because you know the biographies of all of them. There are many temples; the main one is the Shiva Temple. Why do they keep other idols there? If they place money in front of each one of them, then that becomes an income for the priest. So, should that be called a temple to Shiva or a temple to Shiva’s family? Shiv Baba has created this family. The true family is you Brahmins. The saligrams represent Shiv Baba’s family. Afterwards, we become a family of brothers and sisters. At first, you are brothers and then, when the Father comes, you become brothers and sisters. Then, after you go to the golden age, the family becomes even bigger. Marriages also take place there, and so the family expands even more. When we reside in our home, that is, in the abode of peace, we are just brothers and there is the one Father. Here, you are children of the Father of Humanity, brothers and sisters. There is no other relationship. Then, in the kingdom of Ravan, there is a great deal of expansion. The Father continues to explain all the secrets, yet He still says: Sweetest children, remember the Father and your sins of innumerable births will be removed. Your sins will not be cut away by studying. Having remembrance of the Father is the main thing. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to pass with full marks, make your intellect satopradhan and divine. Change from one with a gross intellect into one with a subtle intellect and understand the unique secrets of the drama.
  2. Now perform divine and alokik acts like the Father does. Become doubly non-violent and have your sins absolved with the power of yoga.
Blessing: May you be a great soul who receives the sustenance of God’s blessings in this Brahmin life.
In this Brahmin life, you receive blessings from God and also from the Brahmin family. This short age is the age to receive all attainments for all time. The Father Himself continues to bless every child from His heart at every moment for their every elevated act and thought. However, the basis of claiming all of these blessings is having a balance of remembrance and service. Know the importance of this and become a great soul.
Slogan: To be generous hearted and share the gifts of virtues and powers through your face and activity is to have good wishes and pure feelings.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 29 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 August 2019

To Read Murli 28 August 2019:- Click Here
29-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बड़ा बाबा तुम बड़े आदमियों को ज्यादा मेहनत नहीं देते, सिर्फ दो अक्षर याद करो अल्फ़ और बे”
प्रश्नः- रूहानी बाप का मुख्य कर्तव्य कौन-सा है, जिसमें ही बाप को मजा आता है?
उत्तर:- रूहानी बाप का मुख्य कर्तव्य है पतितों को पावन बनाना। बाप को पावन बनाने में ही बहुत मजा आता है। बाप आते ही हैं बच्चों की सद्गति करने, सबको सतोप्रधान बनाने क्योंकि अब घर जाना है। सिर्फ एक पाठ पक्का करो – हम देह नहीं आत्मा हैं। इसी पाठ से बाप की याद रहेगी और पावन बनेंगे।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं। बाप को भी मजा आता है तुम बच्चों को पवित्र बनाने में इसलिए कहते हैं पतित-पावन बाप को याद करो। सर्व का सद्गति दाता वह एक ही बाप है, और कोई है नहीं। यह भी तुम अभी समझते हो कि अब घर जाना है जरूर। पुरूषार्थ ज्यादा करने के लिए बाप कहते हैं याद की यात्रा जरूरी है। याद से ही पावन बनेंगे फिर है पढ़ाई। पहले अल्फ़ बाप को याद करो, पीछे यह बादशाही, जिसके लिए तुमको डायरेक्शन देते हैं। तुम जानते हो 84 जन्म कैसे लेते हैं। सतोप्रधान से तमोप्रधान बनते हैं, सीढ़ी नीचे उतरना होता है। अब फिर सतोप्रधान बनना है। सतयुग है पावन दुनिया, वहाँ एक भी पतित नहीं। सतयुग में यह बातें होती नहीं। मूल बात है पावन बनने की। अभी तो पवित्र बनो तब ही नई दुनिया में आयेंगे और राज्य करने के लायक बनेंगे। सबको पावन बनना ही है, वहाँ पतित होते ही नहीं। जो अभी सतोप्रधान बनने का पुरूषार्थ करते हैं, वही पावन दुनिया के मालिक बनेंगे। मूल बात ही एक है। बाप को याद करने से सतोप्रधान बनना है। बाप कोई ज्यादा मेहनत नहीं देते हैं। सिर्फ कहते हैं अपने को आत्मा समझो। बार-बार कहते हैं पहले यह पाठ पक्का करो – हम देह नहीं, हम आत्मा हैं। बस। बड़े आदमी जास्ती नहीं पढ़ते हैं, दो अक्षर में ही सुना देते हैं। बड़े आदमी को तकलीफ नहीं दी जाती है। तुम जानते हो सतोप्रधान से तमोप्रधान बनने में कितने जन्म लगे हैं? 63 जन्म नहीं कहेंगे। 84 जन्म लगे हैं। यह तो निश्चय है ना हम सतोप्रधान थे, स्वर्गवासी अर्थात् सुखधाम के मालिक थे। सुखधाम था जिसको ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म कहा जाता है। थे वह भी मनुष्य, सिर्फ दैवीगुण वाले थे। इस समय हैं आसुरी गुण वाले मनुष्य। यह तो शास्त्रों में लिख दिया है कि असुरों और देवताओं की युद्ध लगी तब देवताओं का राज्य स्थापन हुआ। यह तो बाप समझाते हैं – तुम पहले असुर थे। बाप ने आकर ब्राह्मण बनाए ब्राह्मण से देवता बनाने की युक्ति बताई है। बाकी असुरों और देवताओं की लड़ाई की तो बात ही नहीं। देवताओं के लिए कहा जाता है अहिंसा परमो धर्म। देवता कभी लड़ाई थोड़ेही करते। हिंसा की बात हो न सके। सतयुग में दैवी राज्य में लड़ाई कहाँ से आई। सतयुग के देवता यहाँ आकर असुरों से लड़ेगे या असुर वहाँ देवताओं के पास जाकर लड़ेंगे? हो नहीं सकता। यह है पुरानी दुनिया, वह है नई दुनिया, फिर लड़ाई कैसे हो सकती। भक्ति मार्ग में तो मनुष्य जो सुनते हैं वह सत-सत करते रहते हैं। कोई की बुद्धि नहीं चलती है, बिल्कुल ही पत्थरबुद्धि हैं। कलियुग में पत्थरबुद्धि, सतयुग में पारसबुद्धि होते हैं। राज्य ही है पारसनाथ का। यहाँ तो राज्य है नहीं। द्वापर के राजायें भी अपवित्र थे, रत्नजड़ित ताज था, लाइट का नहीं अर्थात् पवित्रता नहीं थी। वहाँ सब पवित्र थे। इसका मतलब यह नहीं कि लाइट कोई ऐसे ऊपर खड़ी रहती है। नहीं। चित्र में पवित्रता की निशानी लाइट दिखाई है। इस समय तुम भी पवित्र बनते हो। तुम्हारी लाइट कहाँ है? यह तुम जानते हो बाप से योग रख पवित्र बनते हैं। वहाँ विकार का नाम नहीं। विकारी रावण राज्य ही खत्म हो जाता है। यहाँ रावण दिखाते हैं, यह सिद्ध करने के लिए कि अभी रावण राज्य है। रावण को हर वर्ष जलाते हैं, परन्तु जलता नहीं है। तुम उन पर विजय पाते हो, फिर यह रावण होगा ही नहीं।

तुम हो अहिंसक। तुम्हारी विजय योगबल से होती है। याद की यात्रा से तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के सब विकर्म विनाश होने हैं। जन्म-जन्मान्तर अर्थात् कब से? विकर्म कब शुरू होते हैं? पहले-पहले तो तुम आदि सनातन देवी-देवता धर्म वाले ही आये हो। सूर्यवंशी फिर चन्द्रवंशी में दो कला कम हो जाती हैं। फिर आहिस्ते-आहिस्ते कला कम होती जाती है। अब मूल बात है बाप को याद कर सतोप्रधान बनना है। जो कल्प पहले सतोप्रधान बने थे, वही बनेंगे। आते रहेंगे। नम्बरवार तो होते हैं। फिर ड्रामा अनुसार जब आयेंगे तो भी नम्बरवार ऐसे ही आयेंगे। आकर जन्म लेंगे। ड्रामा कितना विचित्र बना हुआ है, इसको जानने के लिए भी समझ चाहिए। जैसे तुम नीचे उतरे हो अब फिर चढ़ना है। नम्बरवार ही पास होंगे फिर नम्बरवार नीचे आयेंगे। तुम्हारी एम ऑबजेक्ट है सतोप्रधान बनने की। सब तो फुल पास नहीं होते हैं। 100 मार्क्स से फिर कम-कम होते जाते हैं इसलिए बहुत पुरूषार्थ करना है। इस पुरूषार्थ में ही फेल होते हैं। सर्विस करना तो सहज है। म्यूज़ियम में तुम किस रीति समझाते हो, उससे हर एक की पढ़ाई का मालूम पड़ जाता है। हेड टीचर देखेगा कि यह ठीक नहीं समझाते हैं तो खुद जाकर समझायेंगे, आकर मदद करेंगे। एक-दो गार्ड रखे जाते हैं, जो देखते हैं यह ठीक समझाते हैं? कोई कुछ पूछता है तो मूंझ तो नहीं जाते? यह भी समझते हैं, सेन्टर की सर्विस से प्रदर्शनी की सर्विस अच्छी होती है। प्रदर्शनी से म्युजियम में अच्छी होती है। म्युजियम में शो करते हैं अच्छी तरह से, फिर जो देखकर जाते हैं औरों को सुनाते रहेंगे। यह तो पिछाड़ी तक चलता रहेगा।

यह गॉड फादरली वर्ल्ड युनिवर्सिटी अक्षर अच्छा है। इसमें मनुष्य का तो नाम ही नहीं। इनका उद्घाटन कौन करता है? बाप ने कहा है तुम बड़े आदमी से उद्घाटन कराते हो, तो बड़े का नाम सुन कर बहुत आते हैं। एक के पिछाड़ी ढेर आ जायेंगे इसलिए बाबा ने देहली में लिखा कि बड़े-बड़े आदमियों की जो ओपीनियन है वह छपाओ, तो मनुष्य देखकर कहेंगे इनके पास इतने बड़े-बड़े आदमी जाते हैं। यह तो बहुत अच्छा ओपीनियन देते हैं। तो यह छपाना अच्छा है। इसमें और तो कोई जादू आदि की बात नहीं इसलिए बाबा लिखते रहते हैं ओपीनियन का किताब बनना चाहिए। यहाँ भी बांटना चाहिए। गाया जाता है झूठी काया, झूठी माया….. इसमें सब आ जाते हैं। बहुत हैं जो कहते हैं यह रावण राज्य, राक्षस राज्य है। पहले तो जिनका राज्य है, उनको ख्याल आना चाहिए। कहते हैं हम पतितों को पावन बनाओ। तो पतितपने में सब कुछ आ गया। सब कहते हैं हे पतित-पावन तो जरूर पतित ठहरे ना।

तुमने यह चित्र भी राइट बनाया है कि पतित-पावन परमपिता परमात्मा है या सब नदी नाले? अमृतसर में भी तलाव है। पानी सारा मैला हो जाता है। उसको वो लोग अमृत का तलाव समझते हैं। बड़े-बड़े राजे लोग अमृत समझ तलाव साफ करते हैं इसलिए नाम ही रखा है अमृतसर। अब अमृत तो गंगा जी को भी कहते हैं, पानी इतना गंदा हो जाता है बात मत पूछो। बाबा का इन नदियों आदि में स्नान किया हुआ है। बहुत गंदा पानी होता है। फिर मिट्टी उठाकर लगाते हैं। बाबा अनुभवी है ना। शरीर भी पुराना अनुभवी लिया है। इन जैसा अनुभवी कोई होगा नहीं। बड़े-बड़े वाइसराय, किंग्स आदि से भी मुलाकात करने का अनुभव था। ज्वार बाजरी भी बेचते थे। बस 4-6 आना कमाया तो खुश हो जाते थे बचपन में। अब तो देखो कहाँ चले गये। गांवड़े का छोरा फिर क्या बनते हैं! बाप भी कहते हैं मैं साधारण तन में आता हूँ। यह अपने जन्मों को नहीं जानते हैं। कैसे 84 जन्म ले पिछाड़ी में छोरा बना, यह बाप बैठ समझाते हैं। चरित्र न कृष्ण के हैं, न कंस के हैं। मटकी फोड़ना आदि यह सब तो कृष्ण के लिए झूठ बोलते हैं। बाप देखो कितना सिम्पुल बताते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, उठते-बैठते तुम सिर्फ मामेकम् याद करो। मैं ऊंच ते ऊंच सभी आत्माओं का बाप हूँ। तुम जानते हो हम सब ब्रदर्स हैं, वह बाप है। हम सभी ब्रदर्स एक बाप को याद करते हैं। वह तो हे भगवान, हे ईश्वर कहते हैं परन्तु जानते कुछ भी नहीं। बाप ने अभी परिचय दिया है। ड्रामा के प्लैन अनुसार इनको गीता का युग कहा जाता है क्योंकि बाप आकर ज्ञान सुनाते हैं जिससे ऊंच बनते हो। आत्मा भी शरीर धारण कर फिर उवाच करती है। बाप को भी दिव्य अलौकिक कर्तव्य करना है तो शरीर का आधार लेते हैं। आधाकल्प मनुष्य दु:खी होते हैं तो फिर बुलाते हैं। बाप कल्प में एक ही बार आते हैं। तुम तो बार-बार पार्ट बजाते हो। आदि सनातन है देवी-देवता धर्म, वह फाउन्डेशन है नहीं। उन्हों के बाकी सिर्फ चित्र रह गये हैं। तो बाप भी कहते हैं तुमको यह लक्ष्मी-नारायण बनना है। एम ऑबजेक्ट तो सामने खड़ा है। यह है आदि सनातन देवी-देवता धर्म। बाकी हिन्दू धर्म तो कोई धर्म है नहीं। हिन्दू तो हिन्दुस्तान का नाम है। जैसे सन्यासी ब्रह्म अर्थात् रहने के स्थान को भगवान् कह देते हैं। वैसे यह फिर रहने के स्थान को अपना धर्म कह देते हैं, आदि सनातन कोई हिन्दू धर्म थोड़ेही था। हिन्दू तो देवताओं के आगे जाकर उनको नमन करते हैं, महिमा गाते हैं जो देवता थे, वही हिन्दू बन गये। धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट हो गये हैं। और सभी धर्म कायम हैं, यह देवता धर्म ही प्राय: लोप है। आपेही पूज्य थे फिर पुजारी बन देवताओं की पूजा करते हैं। कितना समझाना पड़ता है। कृष्ण के लिए भी कितना समझाते हैं। यह स्वर्ग का पहला प्रिन्स है तो अब 84 जन्म भी शुरू उनसे होंगे। बाप कहते हैं बहुत जन्मों के अन्त के भी अन्त में मैं प्रवेश करता हूँ। तो उसका जरूर हिसाब तो बतायेंगे ना। यह लक्ष्मी-नारायण ही नम्बरवन में आये थे। तो जो पहले हैं वही फिर लास्ट में जायेंगे। सिर्फ एक कृष्ण तो नहीं था ना, और भी तो विष्णु वंशावली थे। इन बातों को तुम अच्छी रीति जानते हो। यह फिर भूल नहीं जाना है। अभी म्युजियम तो खुलते रहते हैं, बहुत खुल जायेंगे। बहुत लोग आयेंगे। जैसे मन्दिर में जाकर माथा टेकते हैं। तुम्हारे पास भी देखते हैं, लक्ष्मी-नारायण के चित्र हैं तो भक्त लोग उनके आगे पैसे रख देते हैं। तुम कहते हो यहाँ तो समझने की बात है, पैसे रखने की बात नहीं। अभी तुम शिव के मन्दिर में जाओ तो पैसे रखेंगे क्या? तुम जायेंगे समझाने की एम से क्योंकि तुम इन सबकी बायोग्राफी को जानते हो। मन्दिर तो बहुत हैं। मुख्य है शिव का मन्दिर। वहाँ औरों की मूर्तियाँ क्यों रखते हैं। सबके आगे पैसे रखते जायेंगे तो आमदनी होगी। तो वह शिव का मन्दिर कहेंगे वा शिव परिवार का मन्दिर कहेंगे। शिवबाबा ने यह परिवार स्थापन किया। सच्चा-सच्चा परिवार तो तुम ब्राह्मणों का है। शिवबाबा का परिवार तो सालिग्राम हैं। फिर हम भाई-बहन का परिवार बन जाते हैं। पहले भाई-भाई थे, फिर बाप आते हैं तो भाई-बहन बनते हैं। फिर तुम सतयुग में आते हो। तो वहाँ परिवार और बड़ा होता है। वहाँ भी शादी होती है तो परिवार और वृद्धि को पाता है। घर अर्थात् शान्तिधाम में रहते हैं तो हम भाई हैं, एक बाप है। फिर यहाँ प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान भाई-बहन हैं और कोई नाता नहीं है, फिर रावण राज्य में बहुत वृद्धि होती जाती है। बाप सब राज़ समझाते रहते हैं फिर भी कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, बाप को याद करो तो जन्म-जन्मान्तर के पापों का बोझा उतर जायेगा। पढ़ाई से पाप नहीं कटेंगे। बाप की याद ही मुख्य है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) फुल मार्क्स से पास होने के लिए अपनी बुद्धि को सतोप्रधान पारस बनाना है। मोटी बुद्धि से महीन बुद्धि बन ड्रामा के विचित्र राज़ को समझना है।

2) अभी बाप समान दिव्य और अलौकिक कर्म करने हैं। डबल अहिंसक बन योगबल से अपने विकर्म विनाश करने हैं।

वरदान:- इस ब्राह्मण जीवन में परमात्म आशीर्वाद की पालना प्राप्त करने वाली महान आत्मा भव
इस ब्राह्मण जीवन में परमात्म-आशीर्वादें और ब्राह्मण परिवार की आशीर्वादें प्राप्त होती हैं। यह छोटा सा युग सर्व प्राप्तियां और सदाकाल की प्राप्तियां करने का युग है। स्वयं बाप हर श्रेष्ठ कर्म, श्रेष्ठ संकल्प के आधार पर हर ब्राह्मण बच्चे को हर समय दिल से आशीर्वाद देते रहते हैं। लेकिन यह सर्व आशीर्वाद लेने का आधार याद और सेवा का बैलेन्स है। इस महत्व को जान महान आत्मा बनो।
स्लोगन:- फ्राकदिल बन चेहरे और चलन से गुण व शक्तियों की गिफ्ट बांटना ही शुभ भावना, शुभ कामना है।

TODAY MURLI 29 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 August 2018 :- Click Here

29/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to accumulate your accounts of charity for 21 births and burn your accounts of sin with the power of yoga. Therefore, become introverted.
Question: By following which shrimat will you easily be able to make the effort of going beyond sound?
Answer: Shrimat says: Children, become introverted; do not say anything. When you follow this shrimat, you will easily be able to go beyond sound. The more you stay in remembrance and spin the discus of self-realisation, the more income you will accumulate. The time of amrit vela is very good for remembrance. Wake up at that time, sit down, become introverted and stabilise yourself in your original religion.
Song: You spent the night in sleeping and the day in eating.

Om shanti. Who is telling you to become introverted, not to say anything, but to sit, stabilised in the form of a soul? The Father says to the children: Don’t say anything. You have been saying “Rama Rama” a great deal, but human beings are not able to become pure by saying that. Human beings can become pure from impure when they follow the shrimat of the Purifier Father. By saying, “Purifier”, you remember the Father. The Father says: You truly were impure. You are now becoming pure. There is no one impure in the golden age. Five thousand years ago, when Bharat was pure, there was just the one religion. The Father would only create a world of happiness. Bharat was the land of happiness. The temples to Lakshmi and Narayan, Rama and Sita are signs of the golden and silver ages. In the golden age, there truly was the dynasty of Lakshmi and Narayan. There was this Bharat in which there were the kingdoms of the sun and moon dynasties and they are now being established once again. This is called world history and geography. Only human beings would know this. When human beings don’t know this, they are said to be worse than animals. They stumble around so much in order to know the Father, but they can’t know Him. You have become the children of the Father and so He gives you His introduction. At first, you didn’t have His introduction, and so what was the consequence of that? You became orphans, atheists without the Lord and Master. You now belong to the Father and so you are claiming your inheritance from the Father. The inheritance you receive is huge: you receive the kingdom of the golden age for 21 births. Is this a small thing? It is 5000 years since Lakshmi and Narayan used to rule the kingdom. History repeats. The Father explains: Follow My shrimat, become introverted. Do not become extroverted. At this time, there is extreme darkness. This is called the night. The dawn is now coming. The end of the iron age is called extreme darkness and the beginning of the golden age is called extreme light. The Father says: I only come at the confluence age when all human beings are impure. I have now come to give you children the inheritance of constant happiness. Destruction is just ahead. A lot of time has gone by and only a little remains. Therefore, now make effort quickly and claim your inheritance from the unlimited Father, as everyone is doing. All are effort-makers. Everyone now has to go back to the sweet home, beyond sound. That is the home of us souls, the land of nirvana. There wouldn’t be just one person living in a land. All the living human souls (embodied souls) that exist now will all shed their bodies and go to their home, to Baba. That is the incorporeal tree. The tree has been shown in the picture. That is the home of us souls, the land of peace. Then we will go to the land of happiness. The cycle of 84 births is now coming to an end. After the iron age, the golden age will definitely come. After the copper age, the iron age will definitely come. The Father says: I come at the confluence age of every cycle. I inspire the destruction of the old world. Until the new world is established you have to stay in this old world. Until the new house is built, you still have to live in the old one. Then, when the new house is built, the old one is demolished. These are also old things, are they not? There is this Mahabharat War for the destruction of it. The Father sits here and explains to you children. It is souls that understand. It is souls that study worldly knowledge. A soul says: I am a principal, a surgeon. Because of not having knowledge of souls, there is body consciousness. It is each soul that carries the sanskars. You children understand that Shiv Baba is explaining to you souls. We souls will shed our old bodies and take new ones. From being ugly we will now become beautiful. From ugly you are now once again becoming beautiful. We take 84 births, and then Baba removes us from the pyre of lust and sits us on the pyre of knowledge and makes us into the masters of the golden age. The unlimited Father would surely give you the unlimited inheritance. The Father is the Highest on High. He says: I have brought the gift of Paradise for you children. I have brought heaven on the palm of My hand. You have a vision of that in a second. There are so many Brahma Kumars and Kumaris. They are definitely the children of Brahma and the grandchildren of Shiv Baba. You say: We are claiming our inheritance from Shiv Baba. He alone is the Bestower of Salvation for All. He is teaching us Raja Yoga. How would the incorporeal One teach us Raja Yoga? This is why He teaches us through these organs. He gives us the knowledge of the world cycle. All the praise is of the One who is called the Supreme Soul. He is the Ocean of Knowledge and the Purifier and so He definitely has to come. He makes you “master supreme  and pure. He is the unlimited Father to whom all devotees call out. The Father of all the devotees is God, the Supreme Father, the Supreme Soul. If He were omnipresent as they say, how would you receive the inheritance? Human beings cannot be called God. Krishna is also called a human being with divine virtues. He is the first prince. Everyone rocks him in a cradle. No one ever rocks Shiv Baba because He never becomes a child. He just grants a vision to explain to you that He is your Child: If you make Me your Heir and surrender to Me, I will also surrender Myself to you. When you surrender to Me, it is as though I have become your Child. Human beings have so much blind faith. They continue to bow down here and there. That is called the worship of dolls. At Navratri (nine days festival of worshipping the goddesses) they make many dolls. No one knows their occupation. There cannot be a goddess with four or six arms; they even put a sword in her hand. Deities are not violent. Scholars of the scriptures have portrayed them as violent. They worship Kali in Nepal, but she isn’t like that. Mama is not like that Kali with a long tongue. Human beings are human beings. Brahma, Vishnu and Shankar are residents of the subtle region, that’s all. There is nothing else. So, how could there be anyone with eight or ten arms. They made all of those ornaments on the path of devotion. They need some means of earning money. Therefore, they sit and create so many types of image. In the one place they have a temple to the beautiful Krishna and also a temple to the ugly Krishna. There has to be a reason for that. There is so much blind faith. The path of devotion is coming to an end and the path of knowledge is becoming victorious. There is very little time and everyone definitely has to die. Your children and grandchildren won’t become your heirs. There, you won’t even have the knowledge that you made effort for the kingdom at the confluence age. There, the pure world continues. Here, you know that you are truly the ones who have a right to Baba’s kingdom. There, you won’t know what actions you performed or how you became that. You will have forgotten all of this. There are no impure ones there that they would need a guru to become pure. A father washes the children’s feet and sits them on the throne. A guru is needed for salvation. There, there is already salvation and so there is no need for a guru. The Father says: Consider yourself to be a soul. Do not stay in body consciousness. I, the soul, am a doctor. I, the soul, am a magistrate. I don’t know what I will become after shedding this body. We are studying through these bodies. The soul studies through these organs. It is the soul that listens. These matters have to be understood; they are not tall stories. The Father says: The whole world has to become a graveyard. Now, wake up! Otherwise, at the time the haystack is set on fire, there will be cries of distress. However, you won’t be able to do anything at that time. Death will eat you up. You will just remain there crying out in distress. There will also be a lot of punishment. We now have to end our accounts of sin and accumulate our accounts of charity. We have to accumulate anew everything for 21 births. It will be accumulated by remembering the Father. Your old accounts have to be settled. Knowledge is so easy. You earn such an income every day. To the extent that you remember Baba and spin the discus of self-realisation, so you accumulate plenty of income; it is countless. There, you don’t count anything. You are now sitting in huts whereas later you will sit in palaces. There is a difference, is there not, between a hut and a palace? When the new world has been established through Brahma, the old world will be destroyed. This refers to the present time. When the kingdom is established, whatever effort each one of you was able to make will have been made and destruction will take place. Therefore, you mustn’t make any mistakes now. Wake up early in the morning and sit in remembrance. The more you keep a chart of remembrance, the better it will be and you will then claim a high status accordingly. You will become the garland around Shiv Baba’s neck. Look in the mirror of your heart to see if you have become worthy of marrying Lakshmi or Narayan. Am I doing service like Mama and Baba? There are different types of flower. This is the human garden of Baba, the Master of the Garden. It would be said: Look! Kumarka and Manohar are such good flowers! This one is a ratan-jyot (jewel of light). Baba sees this garden and then goes into the other garden and looks at the flowers. The Master of the Garden checks the flowers and so the children should follow Him. Who are the number one and two flowers? You have to become like them. To claim a royal status for 21 births is not a small thing. There is plenty of happiness. You have to become the masters of the world. This is a school. Together with a worldly education, study this spiritual education. Teachers always have good manners ; they are honest. In schools, there is no question of blind faith. There, they study to become barrister s or engineer s. Here, you are studying to become kings of kings. Sannyasis say that God is omnipresent. The game ends there. The unlimited Father explains to you children: Children, remain pure in this final birth. You can do a lot of service. There is an education department for schools, and this too is the Godly education department. You children are Raja Rishis. Those people leave their homes and families. You live at home and renounce the whole world. You have the new world, which only the Father creates, in your intellect. This is why the Father says: Remember Me. This old world is to end. This spiritual college-cum-hospital through which you become ever healthy and ever wealthy is very large. You can open this hospital-cum-college in every home. There is no expense in this. You simply need three square feet of land. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Wake up early in the morning and definitely sit in remembrance. Don’t be careless about this. Accumulate your account of charity.
  2. While keeping your aim and objective in your intellect, imbibe good manners. Definitely study the spiritual study and become introverted.
Blessing: May you be a constant yogi and, with the speciality of being loving and detached, be loved by the Father.
You can find out how much you are loved by the Father from how detached you are. If you are a little detached but otherwise trapped, then you will be loved to that extent. The sign of those who are constantly loved by the Father is that they have natural remembrance. Something that is loved is remembered naturally and constantly. So, this is someone whom you love every cycle. How can you forget someone so lovely! You only forget Him when you begin to consider someone or something even lovelier than the Father. If you constantly love the Father, you will then become constant yogis.
Slogan: Those who renounce their names, respect and honour and engage themselves in unlimited service are those who have mercy and compassion for others.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 29 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 August 2018

To Read Murli 28 August 2018 :- Click Here
29-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – 21 जन्मों के लिए पुण्य का खाता जमा करना है, योगबल से पापों के खाते को भस्म करना है इसलिए अन्तर्मुखी बनो”
प्रश्नः- किस श्रीमत का पालन करने से वाणी से परे जाने का पुरुषार्थ सहज हो जायेगा?
उत्तर:- श्रीमत कहती है – बच्चे, अन्तर्मुखी हो जाओ, बाहर से कुछ भी न बोलो। इस श्रीमत को पालन करेंगे तो सहज ही वाणी से परे जा सकेंगे। जितना याद करेंगे, स्वदर्शन चक्र फिरायेंगे उतना कमाई जमा होती जायेगी। याद के लिए अमृतवेले का समय बहुत अच्छा है। उस समय उठकर अन्तर्मुखी बन आत्म स्वरूप में स्थित होकर बैठ जाओ।
गीत:- तूने रात गँवाई……..

ओम् शान्ति। यह कौन समझाते हैं कि अन्तर्मुखी हो जाओ, बाहर से कुछ भी न बोलो, अपनी आत्मा के स्वरूप में स्थित होकर बैठो? बाप बच्चों से कहते हैं मुख से कुछ भी बोलो नहीं। राम-राम आदि तो बहुत कहते आये परन्तु उस कहने से भी मनुष्य पावन नहीं बन सकते। मनुष्य पतित से पावन तब बन सकते जब पतित-पावन बाप की श्रीमत पर चलें। पतित-पावन कहने से बाप याद आता है। बाप कहते है कि तुम बरोबर पतित थे ना। अब तुम पावन बन रहे हो। सतयुग में कोई पतित होता नहीं। पांच हजार वर्ष पहले जब भारत पावन था तो एक ही धर्म था। बाप तो सुख की ही सृष्टि रचेंगे ना। भारत सुखधाम था। लक्ष्मी-नारायण, राम-सीता आदि के मन्दिर सतयुग-त्रेता की निशानी हैं। सतयुग में बरोबर लक्ष्मी-नारायण की डिनायस्टी थी। यही भारत था जिसमें सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी का राज्य चलता था, जो अब फिर से स्थापन हो रहा है। इसको कहा जाता है वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी। यह मनुष्य ही तो जानेंगे। मनुष्य नहीं जानते तो जानवर से भी बदतर कहा जाता है। बाप को जानने लिए कितने धक्के खाते हैं, परन्तु जान नहीं सकते। तुम बाप के बच्चे बने हो तो बाप अपना परिचय देते हैं। पहले परिचय नहीं था तो इसका परिणाम क्या हुआ? आरफन, नास्तिक, निधन के बन जाते हैं। अभी तुम बाप के बने हो, बाप से वर्सा ले रहे हो। बड़ा भारी वर्सा है, 21 जन्म स्वर्ग की राजधानी मिलती है, कोई कम बात है क्या! लक्ष्मी-नारायण को पांच हजार वर्ष हुआ राज्य करते। फिर से हिस्ट्री रिपीट होती है।

बाप समझाते हैं – मेरी श्रीमत पर चलो, अन्तर्मुखी बनो, बाहरमुखी मत बनो। अब इस समय है घोर अन्धियारा, इनको रात कहा जाता है। अभी सवेरा आ रहा है। कलियुग अन्त को घोर अन्धियारा, सतयुग आदि को घोर सोझरा कहा जाता है। बाप कहते हैं मैं आता ही हूँ संगम पर जबकि सभी मनुष्य पतित हैं। अभी तुम बच्चों को सदा सुख का वर्सा देने आया हूँ। विनाश सामने खड़ा है। बहुत गई थोड़ी रही…. इसलिए अब जल्दी-जल्दी पुरुषार्थ कर बेहद के बाप से वर्सा लो, जैसे सब ले रहे हैं। सब पुरुषार्थी हैं। अब सबको स्वीट होम, वाणी से परे जाना है। वह है हम आत्माओं का घर, निर्वाणधाम। धाम में कोई एक नहीं रहते। जितनी भी जीव आत्मायें हैं,, वे सभी शरीर छोड़ जायेंगे अपने घर बाबा के पास। वह है निराकारी झाड़। जैसे चित्र में भी झाड़ दिखाया जाता है। वह है हम आत्माओं का घर – शान्तिधाम। फिर हम आयेंगे सुखधाम। अभी 84 जन्मों का चक्र पूरा होता है, कलियुग के बाद सतयुग जरूर आयेगा ना। द्वापर के बाद कलियुग जरूर आयेगा। बाप कहते हैं – मैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे आता हूँ, पुरानी दुनिया का विनाश कराता हूँ। जब तक नई दुनिया स्थापन हो जाए तब तक इस पुरानी दुनिया में रहना पड़े। जब तक नया मकान बन जायें तब तक पुराने मकान में बैठे रहते हैं ना। फिर जब नया बन जाये फिर पुराने को तोड़ा जाता है। यह भी पुरानी चीज़ है ना। इसके विनाश के लिए यह है महाभारत लड़ाई। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। आत्मा ही समझती है – जिस्मानी नॉलेज भी आत्मा सीखती है ना। आत्मा कहती है मैं प्रिन्सीपाल हूँ, सर्जन हूँ। आत्मा की नॉलेज न होने कारण देह-अभिमानी हो जाते हैं। आत्मा ही संस्कार ले जाती है। तुम बच्चे समझते हो शिवबाबा हम आत्माओं को समझा रहे हैं। हम आत्मा यह पुराना शरीर छोड़ फिर नया जाकर लेंगी। अभी हम श्याम हैं फिर सुन्दर बनेंगे। सुन्दर से श्याम बनते हैं। 84 जन्म लग जाते हैं। फिर बाबा काम चिता से उतार ज्ञान चिता पर बिठाए गोल्डन एज का मालिक बना देते हैं। बेहद का बाप जरूर बेहद का वर्सा देगा ना। बाप तो ऊंच ते ऊंच है। कहते हैं बच्चों के लिए वैकुण्ठ की सौगात लाये है। हथेली पर बहिश्त लाया हूँ। सेकेण्ड में तुम साक्षात्कार कर लेते हो। कितने ढेर ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। जरूर ब्रह्मा के बच्चे हैं और शिवबाबा के पोत्रे हैं। तुम कहते हो हम शिवबाबा से वर्सा लेते हैं। वही सर्व का सद्गति दाता है। राजयोग सिखलाते हैं। निराकार कैसे सिखलाये, इसलिए आरगन्स द्वारा पढ़ाते हैं। सृष्टि चक्र की नॉलेज देते हैं। जिसको परम आत्मा, सुप्रीम सोल कहते हैं उसकी ही सारी महिमा है। ज्ञान का सागर, पतित-पावन वह है तो जरूर आना पड़े। तुमको भी मास्टर सुप्रीम अथवा पावन बनाते हैं। वह है बेहद का बाप जिसको सभी भक्त बुलाते हैं। सभी भक्तों का बाप वह भगवान् है – परमपिता परमात्मा। अगर उनको सर्वव्यापी कह देते तो फिर वर्सा कैसे मिलेगा? मनुष्य को भगवान् नहीं कह सकते। कृष्ण को भी दैवीगुणधारी मनुष्य कहा जाता है, वह है फर्स्ट प्रिन्स। सभी उनको झूले में झुलाते हैं। शिवबाबा को कभी झुलाते नहीं होंगे क्योंकि वह कभी बच्चा बनता ही नहीं। यह तो साक्षात्कार कराते हैं समझाने के लिए – हम तुम्हारा बच्चा हूँ, तुम हमको अपना वारिस बनायेंगे, बलिहार जायेंगे तो मैं भी बलिहार जाऊंगा। बलिहार जाते हो तो जैसे मैं तुम्हारा बालक हो गया।

मनुष्यों में कितनी अन्धश्रद्धा है जहाँ तहाँ माथा टेकते रहते हैं इसको कहा जाता है गुड़ियों की पूजा। नवरात्रि में बहुत गुड़ियां बनायेंगे। उनके आक्यूपेशन का किसको पता नहीं है। 4-6 भुजा वाली देवी थोड़ेही होती है और फिर तलवार आदि दे देते हैं। देवतायें हिंसक थोड़ेही होते हैं। शास्त्रवादियों ने उन्हें भी हिंसक बना दिया है। नेपाल में भी काली को पूजते हैं फिर ऐसे है थोड़ेही। मम्मा ऐसी काली जीभ वाली है थोड़ेही। मनुष्य तो मनुष्य ही होता है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर हैं सूक्ष्मवतनवासी। बस, और कोई चीज़ ही नहीं है फिर 8-10 भुजा वाले कहाँ से आये! यह सब भक्ति मार्ग के अलंकार बनाते हैं। पैसा कमाने के लिए कुछ तो चाहिए ना। फिर किस्म-किस्म के चित्र बैठ बना देते हैं। वहाँ ही देखो सुन्दर कृष्ण का मन्दिर, वहाँ ही सांवरे कृष्ण का मन्दिर। कारण तो चाहिए ना। कितनी अन्धश्रद्धा है! अब भक्ति मार्ग खत्म हो ज्ञान मार्ग जिंदाबाद होता है। बाकी समय तो थोड़ा है, सबको मरना तो जरूर है। पुत्र-पोत्रे वारिस बनने नहीं हैं। वहाँ तुमको यह ज्ञान ही नहीं रहेगा कि संगम पर हमने राजाई के लिए यह पुरुषार्थ किया था। वहाँ तो पवित्र सृष्टि चल पड़ती है। यहाँ तुम जानते हो कि बरोबर हम बाबा की राजधानी के हकदार हैं। वहाँ यह पता नहीं रहेगा कि कौन-से कर्म किये थे, कैसे बनें – यह सब भूल जाता है। वहाँ पतित होते ही नहीं, जो पावन बनने के लिए गुरू की दरकार पड़े। बाप पैर धोकर बच्चों को तख्त पर बिठाते हैं। गुरू चाहिए सद्गति के लिए। वहाँ तो है ही सद्गति। गुरू की दरकार ही नहीं। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो, देह-अभिमान में न रहो। मैं आत्मा अभी डॉक्टर के रूप में हूँ, मैं आत्मा मजिस्ट्रेट हूँ फिर यह शरीर छोड़ने के बाद पता नहीं क्या बनूँगा? हम इस शरीर द्वारा पढ़ते हैं। आत्मा ही इन आरगन्स द्वारा पढ़ती है, आत्मा ही सुनती है – यह समझने की बातें हैं, न कि दन्त कथायें हैं।

बाप कहते हैं यह सारी दुनिया कब्रिस्तान होनी है। अब जागो, नहीं तो भंभोर को आग लगने के समय हाय-हाय करेंगे। परन्तु कुछ भी कर नहीं सकेंगे, काल खा जायेगा, त्राहि-त्राहि करके रह जायेंगे। सजायें भी बहुत खायेंगे। अभी हमें पापों का खाता ख़लास कर पुण्य के खाते को जमा करना है। नयेसिर 21 जन्मों के लिए जमा करना है। जमा होगा बाप को याद करने से। पुराना खाता चुक्तू हो जाना चाहिए। ज्ञान कितना सहज है! तुम्हारी रोज कितनी कमाई होती है! जितना जो याद करते हैं, स्वदर्शन चक्र फिराते हैं तो अथाह कमाई करते हैं, अनगिनत। वहाँ कोई गिनती थोड़ेही होती है। अभी झोपड़ियों में बैठे हैं फिर महलों में बैठेंगे। फ़र्क तो रहता है ना – झोपड़ी और महल में। ब्रह्मा द्वारा नई दुनिया स्थापन हो जायेगी तो पुरानी दुनिया का विनाश हो जायेगा। अभी की बात है ना। राजधानी की स्थापना हो जायेगी फिर जिसने जितना पुरुषार्थ किया सो किया फिर विनाश हो जायेगा इसलिए अब ग़फलत नहीं करनी चाहिए। सवेरे उठकर याद में बैठ जाना चाहिए। जितना याद का चार्ट रखो उतना अच्छा है और फिर उतना ही ऊंच पद पायेंगे। शिवबाबा के गले का हार बनेंगे। दिल दर्पण में देखना है कि मैं लायक बना हूँ – लक्ष्मी-नारायण को वरने? हम बाबा-मम्मा जैसी सर्विस करते हैं? किस्म-किस्म के फूल हैं। यह बागवान बाबा का ह्युमन गुलशन है। कहेंगे – देखो, कुमारका, मनोहर कितने अच्छे-अच्छे फूल हैं! यह रतन ज्योत है। बाबा इस बगीचे को देखते फिर उस बगीचे में जाकर फूलों को देखते हैं। बागवान जांच करते हैं फूलों की, तो बच्चों को फालो करना चाहिए – नम्बर वन, टू फूल कौन-कौन हैं? ऐसा बनना चाहिए। 21 जन्मों के लिए राजाई पद पाना कोई कम बात थोड़ेही है! अथाह सुख हैं। विश्व का मालिक बनना है। यह स्कूल है। उस जिस्मानी पढ़ाई के साथ यह रूहानी पढ़ाई करो। टीचर्स के हमेशा अच्छे मैनर्स होते हैं। ऑनेस्ट होते हैं। स्कूल में अन्धश्रद्धा की बात नहीं। वहाँ बैरिस्टरी पढ़ते, इन्जीनियरिंग पढ़ते। यहाँ तुम राजाओं का राजा बनने के लिए पढ़ते हो। सन्यासी तो कह देते ईश्वर सर्वव्यापी है। बस, खेल ही खत्म। बेहद का बाप बच्चों को समझाते हैं – बच्चे, यह अन्तिम जन्म पवित्र रहो। तुम बहुत सर्विस कर सकते हो।

वहाँ भी एज्युकेशन डिपार्टमेन्ट है। यह भी गॉडली एज्युकेशन डिपार्टमेन्ट है। तुम बच्चे हो राजऋषि। वह तो घरबार छोड़ देते हैं। तुम घर में रहते सारी दुनिया का त्याग करते हो। तुम्हारी बुद्धि में अब नई दुनिया है, जो बाप ही बनाते हैं, इसलिए बाप कहते हैं तुम मुझे याद करो, यह पुरानी दुनिया ख़लास हो जायेगी। यह रूहानी कॉलेज अथवा हॉस्पिटल भी बहुत बड़ा है, जिससे तुम एवरेहल्दी, एवरवेल्दी बनते हो। घर-घर में तुम यह हॉस्पिटल अथवा कॉलेज खोल सकते हो, इसमें खर्चा कुछ भी नहीं। सिर्फ तीन पैर पृथ्वी के चाहिए। अच्छा!

मात-पिता बापदादा का मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सवेरे-सवेरे उठकर याद में जरूर बैठना है, इसमें ग़फलत नहीं करनी है। पुण्य का खाता जमा करना है।

2) एम ऑब्जेक्ट को बुद्धि में रख अच्छे मैनर्स धारण करने हैं। रूहानी पढ़ाई जरूर करनी है। अन्तर्मुखी होकर रहना है।

वरदान:- न्यारे और प्यारे पन की विशेषता द्वारा बाप के प्रिय बनने वाले निरन्तर योगी भव
मैं बाप का कितना प्यारा हूँ – इसका हिसाब न्यारेपन से लगा सकते हो। अगर थोड़ा न्यारे हैं, बाकी फंस जाते हैं तो प्यारे भी इतने होंगे। जो सदा बाप के प्यारे हैं उसकी निशानी है स्वत: याद। प्यारी चीज़ स्वत: और निरन्तर याद रहती है। तो यह कल्प-कल्प की प्रिय चीज़ है। ऐसी प्रिय वस्तु भूल कैसे सकते! भूलते तब हो जब बाप से भी अधिक कोई व्यक्ति या वस्तु को प्रिय समझने लगते हो। अगर सदा बाप को प्रिय समझो तो निरन्तर योगी बन जायेंगे।
स्लोगन:- जो अपने नाम-मान और शान का त्याग कर बेहद सेवा में रहते हैं वही परोपकारी हैं।
Font Resize