28 october ki murli

TODAY MURLI 28 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 28 October 2020

28/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have come to this school to receive a passport to heaven. Become soul conscious and have your name noted in the register and you will go to heaven.
Question: By not having which awareness do some children not have regard for the Father?
Answer: Some children don’t have the awareness that the One to whom the whole world is calling out, the One whom everyone remembers, the highest-on-high Father, is the One who is at present here in serving us. This faith is numberwise. To the extent that you have this faith, you accordingly have that regard.
Song: The rain of knowledge is on those who are with the Beloved.

Om shanti. All of you children are with the Ocean of Knowledge. Not all of the many children can stay in one place. Those who are with Him can listen to the knowledge directly whereas those who live far away receive it a little later. However, it isn’t that those who stay with the Father experience greater progress than those who live far away. No, it has been seen in a practicalway that those who live far away study more and make more progress. It is definite that the unlimited Father is here. You Brahmin children are numberwise. You children have to imbibe divine virtues. Some children make big mistakes. They also understand that the unlimited Father, whom the whole world remembers, is engaged in serving us and showing us the path to become the most elevated and that He explains to us with so much love and yet, they don’t give Him that much regard. Those in bondage experience so many beatings. They are desperate and yet they still stay in remembrance and take knowledge well. Their status becomes elevated. Baba is not saying this about everyone. It is numberwise according to the effort you make. The Father is cautioning the children. Not everyone can be the same. Those living outside and in bondage are still earning a good income. This song has been composed by those on the path of devotion. However, it is worth extracting the meaning of it for you. What do they know of who the Beloved is and whose Beloved He is? Souls don’t even know themselves, so how could they know the Father? He too is a soul, is He not? They don’t even know who I am or where I come from. Everyone is body conscious. No one is soul conscious. If they were to become soul conscious, then souls would know their Father. Because of being body conscious, they neither know about souls nor the Supreme Father, the Supreme Soul. The Father sits here and explains to you children personally. This is an unlimited school. There is just the one aim and objective: to attain the sovereignty of heaven. There are different levels of status in heaven. There are the king and queen and there are subjects. The Father says: I have come once again to make you doublecrowned. Not everyone can become doublecrowned. Those who study well understand internally that they can become this. They are surrendered and also have faith. You all understand that you must not perform dirty actions. Some have many defects. They do not consider themselves to be the ones who will receive such a high status. This is why they don’t make effort. If you ask the Father whether you can become that, He can instantly tell you. If you look at yourself, you can instantly understand that you will not be able to attain that high a status. Qualifications are also needed for that. Such things do not exist in the golden and silver ages. There, it is the reward. The kings that come at that time have a lot of love for their subjects. They are like a mother and father. You children know that this is the unlimited Father. He is the One who registers the whole world. You also registeryourselves, do you not? He is giving each of you a passport. You receive a passport here to become the masters of heaven. Baba has said that everyone who is worthy of going to heaven should have a photograph taken, because you are changing from ordinary humans into deities. You should keep next to it a photo of yourself sitting on a throne, wearing a crown. That is what you are becoming. You should keep this sample at the exhibition. This is Raj Yoga. For instance, when someone becomes a barrister, they have a photograph of him in ordinary dress on one side and a photo of him in the dress of a barrister on the other side. In the same way, there should be a photo of you in ordinary dress and a double-crowned photo on the other side. You have a picture in which you ask: What do you want to become? Do you want to become a barrister, etc. or a king of kings? You should have such pictures. Barristers and judges etc. exist here. You are to become kings of kings in the new world. Your aim and objective is in front of you. This is what you are becoming. The explanation is so good! The pictures should be very good, fullsized. When pupils are studying to become barristers, they have yoga with a barrister and they become barristers. This one’s yoga is with the Supreme Father, the Supreme Soul. Therefore, he becomes doublecrowned. The Father explains: You children now have to act on this. It is very easy to explain the picture of Lakshmi and Narayan. This is what you are becoming. Therefore, a new world is definitely needed for you. After hell, there will be heaven. This is now the most elevated confluence age. This study makes you so elevated. There is no need for money etc. in this. You should be interested in studying. There was once someone so poor that he didn’t have enough money to study. In spite of that, he made effort and became wealthy and became the minister of Queen Victoria. You too are so poor at this time. The Father is teaching you such elevated things. Here, you simply have to remember the Father with your intellect. There is no need to switch on lights etc. You can sit anywhere and remember Him. However, Maya is such that she makes you forget the Father. It is only in remembrance that there are obstacles. This is a battle. Souls become pure by remembering the Father. Maya doesn’t do anything while you are studying. The intoxication of remembrance is greater than that of the study. This is why ancient yoga has been remembered. It is said: Yoga and knowledge. You receive the knowledge of having yoga; you are told the ways to stay in remembrance. There is also the knowledge of the world cycle. No one else knows the Creator or the beginning, the middle or the end of creation. They teach the ancient yoga of Bharat. That which is called “ancient” was the new world. They say that it is hundreds of thousands of years old. They also show many different durations of the cycle. Some say one thing and others say something else. Here, only the one Father teaches you. Even when you go outside, you will receive pictures. That one is the Businessman. Baba says: You can even print the pictures on cloth. If someone doesn’t have a big screen press, you can have the pictures printed in two pieces, and then put them together in such a way that the join is not visible. The unlimited Father, the Highest Authority, says: If someone has something like this printed, I will glorify his name. If someone were to print these on cloth and take them abroad, he could be given 5,000 to 10,000 rupees for each picture. They have plenty of money there. These can be made. There are such big printing presses there that they have such beautiful scenes and scenery of cities printed, don’t even ask! These too can be printed. This is a firstclass thing. They would say: There is true knowledge in this. No one else could have this knowledge. No one knows this. Anyone who explains has to be clever at speaking English. Everyone there understands English. They too have to be given the message. According to the drama, they are the ones who become instruments for destruction. Baba has told you that both sides have such bombs etc. that if they were to come together, they could become the masters of the whole world. However, this drama is created in such a way that you claim sovereignty over the world with the power of yoga. No one can become the master of the world with weapons etc. They have science and you have silence. Simply remember the Father and the cycle and make others similar to yourself. You children are claiming sovereignty over the world with the power of yoga. They will definitely fight among themselves. You are the ones in between who will take the butter. They have shown a ball of butter in the mouth of Krishna. There is also the saying: Two were fighting and the third one took the butter and ate it. It truly is like that. You take the butter of the kingdom of the whole world. Therefore, you should have so much happiness. Oho! Baba, it is Your wonder! This is Your knowledge. The explanation is very good. How did those of the original eternal deity religion attain sovereignty over the world? No one has thought about this. At that time, there are no other countries. The Father says: I do not become the master of the world. I make you that. You become the masters of the world by studying. I, the Supreme Soul, am bodiless. Each of you has a body. You are bodily beings. Brahma, Vishnu and Shankar have subtle bodies. Just as each of you is a soul, so I am the Supreme Soul. My birth is divine and unique. No one else can take birth in this way. This is fixed. All of this is fixed in the drama. If someone dies, that too is fixed in the drama. You receive so much understanding of the drama. You understand, numberwise. Some have dull intellects. There are three grades. Those who take the last grade are said to be dull. They themselves understand which ones are in the first grade and which ones are in the second grade. It is the same among the subjects. This study is the same one. You children know that, after studying, you will become doublecrowned. We were doublecrowned. Then, we became singlecrowned and we now have no crowns. It is said: You receive the fruit according to the actions you perform. You wouldn’t say this in the golden age. Here, if you perform good actions you receive good fruit for one birth. Some perform such actions that they become ill from birth. That too is the suffering of karma. The philosophy of karma, neutral karma and sinful karma has been explained to you children. You receive the good or bad fruit of whatever you do here. When someone becomes wealthy, he must definitely have performed good actions previously. You are now creating your reward for birth after birth. The difference between the wealthy and the poor there depends on the effort everyone makes at this time. That reward is imperishable for 21 births. Here, you only receive something temporarily. You have to continue to perform actions. This is the field of action. The golden age is the field of action of heaven. There are no sinful actions performed there. All of these things have to be imbibed by your intellects. Hardly any of you continue to write these pointsdown. Some even become tired of writing their chart. You children should write these points down. These points are so deep that you won’t even be able to remember them; they will slip away. You will then regret that you forgot a particular point. Everyone’s condition is the same. Many forget and then remember the next day. You children should be concerned about your own progress. Baba knows that hardly any of you write accurately. Baba is also the Businessman. This one was a businessman of perishable jewels. That Businessman is of the jewels of knowledge. Many children fail in the subject of yoga. Hardly any of you are able to stay in accurate remembrance for an hour or an hour and a half. You have to make effort for eight hours. You children also have to earn an income for your livelihood. Baba has given you the example of that lover and beloved. While each of them is sitting anywhere alone, they just remember one another and they appear in front of each other. That too is like a vision. This one remembers that One and that One remembers this one. That One is the Beloved here and all of you are lovers. That beautiful Beloved is very beautiful and everpure. The Father says: I am the Traveller, the ever-beautiful One. I make you beautiful too. Deities have natural beauty. Here, people have follow all sorts of fashion. They wear many different types of dress. There, they have constant and natural beauty. You are now to go to that world now. The Father says: I enter an old, impure land and an impure body. No one here has a pure body. The Father says: I enter this one’s body in the last of his many births and establish the family path. As you make progress, you will continue to become more serviceable. You will make effort and then understand. You made such effort previously and are doing so again. You cannot receive anything without making effort. You know that you are making effort to become Narayan from an ordinary human. There was the kingdom of the new world. It doesn’t exist now; it will exist later. The golden age will definitely come after the iron age. The kingdom is being established, exactly as it was in the previous cycle. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Together with surrendering yourselves, you also have to have intellects filled with faith. Never perform any dirty actions. Only when no defects remain in you can you receive a good status.
  2. In order to do business with the jewels of knowledge, note down the good points that Baba tells you. Then, remember them and relate them to others. Always be concerned about your own progress.
Blessing: May you be able to catch the final directions at the time of destruction with your wireless set by becoming viceless.
In order to catch the final directions at the time of destruction, you need a viceless intellect. Just as those people enable sound to reach another place with a wireless set, in the same way, you have the wireless set here of being viceless. With this wireless, you will hear the voice telling you to go to a particular safe place. The children who stay in remembrance of the Father and are viceless and who have the practice of being bodiless will not be destroyed at the time of destruction, but will leave their bodies according to their own will.
Slogan: To put yoga aside and become busy acting is carelessness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 28 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

28-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम इस पाठशाला में आये हो स्वर्ग के लिए पासपोर्ट लेने, आत्म-अभिमानी बनो और अपना नाम रजिस्टर में नोट करा दो तो स्वर्ग में आ जायेंगे”
प्रश्नः- कौन-सी स्मृति न रहने के कारण बच्चे बाप का रिगार्ड नहीं रखते हैं?
उत्तर:- कई बच्चों को यही स्मृति नहीं रहती कि जिसको सारी दुनिया पुकार रही है, याद कर रही है, वही ऊंच ते ऊंच बाप हम बच्चों की सेवा में उपस्थित हुआ है। यह निश्चय नम्बरवार है, जितना जिसको निश्चय है उतना रिगार्ड रखते हैं।
गीत:- जो पिया के साथ है……..

ओम् शान्ति। सब बच्चे ज्ञान सागर के साथ तो हैं ही। इतने सब बच्चे एक जगह तो रह नहीं सकते। भल जो साथ हैं वह नज़दीक में डायरेक्ट ज्ञान सुनते हैं और जो दूर हैं उन्हों को देरी से मिलता है। परन्तु ऐसे नहीं कि साथ वाले जास्ती उन्नति को पाते हैं और दूर वाले कम उन्नति को पाते हैं। नहीं, प्रैक्टिकल देखा जाता है जो दूर हैं वह जास्ती पढ़ते हैं और उन्नति को पाते हैं। इतना जरूर है बेहद का बाप यहाँ हैं। ब्राह्मण बच्चों में भी नम्बरवार हैं। बच्चों को दैवीगुण भी धारण करने हैं। कोई-कोई बच्चों से बड़ी-बड़ी ग़फलत होती है। समझते भी हैं बेहद का बाप जिसको सारी सृष्टि याद करती है, वह हमारी सेवा में उपस्थित है और हमको ऊंच ते ऊंच बनाने का मार्ग बताते हैं। बहुत प्यार से समझाते हैं फिर भी इतना रिगार्ड देते नहीं। बांधेलियाँ कितनी मार खाती हैं, तड़फती हैं फिर भी याद में रह अच्छा उठा लेती हैं। पद भी ऊंच बन जाता है। बाबा सबके लिए नहीं कहते हैं। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार तो हैं ही। बाप बच्चों को सावधान करते हैं, सब तो एक जैसे हो न सकें। बांधेलियाँ आदि बाहर में रहकर भी बड़ी कमाई करती हैं। यह गीत तो भक्ति मार्ग वालों का बना हुआ है। परन्तु तुम्हारे लिए अर्थ करने जैसा भी है, वह क्या जानें, पिया कौन है, किसका पिया है? आत्मा खुद को ही नहीं जानती तो बाप को कैसे जाने। है तो आत्मा ना। मैं क्या हूँ, कहाँ से आई हूँ – यह भी पता नहीं है। सब हैं देह-अभिमानी। आत्म-अभिमानी कोई है नहीं। अगर आत्म-अभिमानी बनें तो आत्मा को अपने बाप का भी पता हो। देह-अभिमानी होने के कारण न आत्मा को, न परमपिता परमात्मा को जानते हैं। यहाँ तो तुम बच्चों को बाप बैठ सम्मुख समझाते हैं। यह बेहद का स्कूल है। एक ही एम ऑब्जेक्ट है – स्वर्ग की बादशाही प्राप्त करना। स्वर्ग में भी बहुत पद हैं। कोई राजा-रानी कोई प्रजा। बाप कहते हैं – मैं आया हूँ तुमको फिर से डबल सिरताज बनाने। सब तो डबल सिरताज बन न सकें। जो अच्छी रीति पढ़ते हैं वह अपने अन्दर में समझते हैं हम यह बन सकते हैं। सरेन्डर भी हैं, निश्चय भी है। सब समझते हैं इनसे कोई ऐसा छी-छी काम नहीं होता है। कोई-कोई में बहुत अवगुण होते हैं। वह थोड़ेही समझेंगे कि हम कोई इतना ऊंच पद पायेंगे इसलिए पुरूषार्थ ही नहीं करते। बाप से पूछें कि मैं यह बन सकता हूँ, तो बाबा झट बतायेंगे। अपने को देखेंगे तो झट समझेंगे बरोबर मैं ऊंच पद नहीं पा सकता हूँ। लक्षण भी चाहिए ना। सतयुग-त्रेता में तो ऐसी बातें होती नहीं। वहाँ है प्रालब्ध। बाद में जो राजायें होते हैं, वह भी प्रजा को बहुत प्यार करते हैं। यह तो मात-पिता है। यह भी तुम बच्चे ही जानते हो। यह तो बेहद का बाप है, यह सारी दुनिया को रजिस्टर करने वाले हैं। तुम भी रजिस्टर करते हो ना। पासपोर्ट दे रहे हो। स्वर्ग का मालिक बनने के लिए यहाँ से तुमको पासपोर्ट मिलता है। बाबा ने कहा था सबका फोटो होना चाहिए, जो वैकुण्ठ के लायक हैं क्योंकि तुम मनुष्य से देवता बनते हो। बाजू में ताज व तख्त वाला फोटो हो। हम यह बन रहे हैं। प्रदर्शनी आदि में भी यह सैम्पुल रखना चाहिए – यह है ही राजयोग। समझो बैरिस्टर बनते हैं तो वह एक तरफ आर्डनरी ड्रेस में हो, एक तरफ बैरिस्टरी ड्रेस। वैसे एक तरफ तुम साधारण, एक तरफ डबल सिरताज। तुम्हारा एक चित्र है ना – जिसमें पूछते हो क्या बनना चाहते हो? यह बैरिस्टर आदि बनना है या राजाओं का राजा बनना है। ऐसे चित्र होने चाहिए। बैरिस्टर जज आदि तो यहाँ के हैं। तुमको राजाओं का राजा नई दुनिया में बनने का है। एम ऑब्जेक्ट सामने है। हम यह बन रहे हैं। समझानी कितनी अच्छी है। चित्र भी बड़े अच्छे हों फुल साइज़ के। वह बैरिस्टरी पढ़ते हैं तो योग बैरिस्टर से है। बैरिस्टर ही बनते हैं। इनका योग परमपिता परमात्मा से है तो डबल सिरताज बनते हैं। अब बाप समझाते हैं बच्चों को एक्ट में आना चाहिए। लक्ष्मी-नारायण के चित्र पर समझाना बहुत सहज होगा। हम यह बन रहे हैं तो तुम्हारे लिए जरूर नई दुनिया चाहिए। नर्क के बाद है स्वर्ग।

अभी यह है पुरूषोत्तम संगमयुग। यह पढ़ाई कितना ऊंच बनाने वाली है, इसमें पैसे आदि की दरकार नहीं है। पढ़ाई का शौक होना चाहिए। एक आदमी बहुत गरीब था, पढ़ने के लिए पैसे नहीं थे। फिर पढ़ते-पढ़ते मेहनत करके इतना साहूकार हो गया जो क्वीन विक्टोरिया का मिनिस्टर बन गया। तुम भी अभी कितने गरीब हो। बाप कितना ऊंच पढ़ाते हैं। इसमें सिर्फ बुद्धि से बाप को याद करना है। बत्ती आदि जगाने की भी दरकार नहीं। कहाँ भी बैठे याद करो। परन्तु माया ऐसी है जो बाप की याद भुला देती है। याद में ही विघ्न पड़ते हैं। यही तो युद्ध है ना। आत्मा पवित्र बनती ही है बाप को याद करने से। पढ़ाई में माया कुछ नहीं करती। पढ़ाई से याद का नशा ऊंच है, इसलिए प्राचीन योग गाया हुआ है। योग और ज्ञान कहा जाता है। योग के लिए ज्ञान मिलता है – ऐसे-ऐसे याद करो। और फिर सृष्टि चक्र का भी ज्ञान है। रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को और कोई नहीं जानते। भारत का प्राचीन योग सिखलाते हैं। प्राचीन तो कहा जाता है नई दुनिया को। उनको फिर लाखों वर्ष दे दिये हैं। कल्प की आयु भी अनेक प्रकार की बताते हैं। कोई क्या कहते, कोई क्या कहते। यहाँ तुमको एक ही बाप पढ़ा रहे हैं। तुम बाहर में भी जायेंगे, तुमको चित्र मिलेंगे। यह तो व्यापारी है ना। बाबा कहते कपड़े पर छप सकते हैं। अगर किसके पास बड़ी स्क्रीन प्रेस न हो तो आधा-आधा कर दे। फिर जॉइंट ऐसा कर लेते हैं जो पता भी नहीं पड़ता है। बेहद का बाप, बड़ी सरकार कहते हैं, कोई छपाकर दिखाये तो मैं उनका नाम बाला करूँगा। यह चित्र कपड़े पर छपाए कोई विलायत ले जाए तो तुमको एक-एक चित्र का कोई 5-10 हज़ार भी दे देवे। पैसे तो वहाँ ढेर हैं। बन सकते हैं, इतनी बड़ी-बड़ी प्रेस हैं, शहरों की सीन सीनरी ऐसी-ऐसी छपती हैं – बात मत पूछो। यह भी छप सकते हैं। यह तो ऐसी फर्स्टक्लास चीज़ है – कहेंगे सच्चा ज्ञान तो इनमें ही है, और कोई के पास तो है ही नहीं। किसको पता ही नहीं – फिर समझाने वाला भी इंगलिश में होशियार चाहिए। इंगलिश तो सब जानते हैं। उन्हों को भी सन्देश तो देना है ना। वही विनाश अर्थ निमित्त बने हुए हैं ड्रामा अनुसार। बाबा ने बताया है उन्हों के पास बॉम्ब्स आदि ऐसे-ऐसे हैं जो दोनों अगर आपस में मिल जाएं तो सारे विश्व के मालिक बन सकते हैं। परन्तु यह ड्रामा ही ऐसा बना हुआ है जो तुम योगबल से विश्व की बादशाही लेते हो। हथियार आदि से विश्व के मालिक बन न सकें। वह है साइन्स, तुम्हारी है साइलेन्स। सिर्फ बाप को और चक्र को याद करो, आपसमान बनाओ।

तुम बच्चे योगबल से विश्व की बादशाही ले रहे हो। वह आपस में लड़ेंगे भी जरूर। माखन बीच में तुमको मिलना है। कृष्ण के मुख में माखन का गोला दिखाते हैं। कहावत भी है दो आपस में लड़े, बीच में माखन तीसरा खा गया। है भी ऐसे। सारे विश्व की राजाई का माखन तुमको मिलता है। तो तुमको कितनी खुशी होनी चाहिए। वाह बाबा आपकी तो कमाल है। नॉलेज तो आपकी ही है। बड़ी अच्छी समझानी है। आदि सनातन देवी-देवता धर्म वालों ने विश्व की बादशाही कैसे प्राप्त की। यह किसको भी ख्याल में होगा नहीं। उस समय और कोई खण्ड होता नहीं। बाप कहते हैं मैं विश्व का मालिक नहीं बनता, तुमको बनाता हूँ। तुम पढ़ाई से विश्व के मालिक बनते हो। मैं परमात्मा तो हूँ ही अशरीरी। तुम सबको शरीर है। देहधारी हो। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को भी सूक्ष्म शरीर है। जैसे तुम आत्मा हो वैसे मैं भी परम आत्मा हूँ। मेरा जन्म दिव्य और अलौकिक है, और कोई भी ऐसे जन्म नहीं लेते हैं। यह मुकरर है। यह सब ड्रामा में नूध है। कोई अभी मर जाते हैं – यह भी ड्रामा में नूध हैं। ड्रामा की समझानी कितनी मिलती है। समझेंगे नम्बर-वार। कोई तो डल बुद्धि होते हैं। तीन ग्रेड्स होती हैं। पिछाड़ी की ग्रेड वाले को डल कहा जाता है। खुद भी समझते हैं यह फर्स्ट ग्रेड में है, यह सेकण्ड में है। प्रजा में भी ऐसे ही है। पढ़ाई तो एक ही है। बच्चे जानते हैं यह पढ़कर हम सो डबल सिरताज बनेंगे। हम डबल सिरताज थे फिर सिंगल ताज फिर नो ताज बनें। जैसा कर्म वैसा फल कहा जाता है। सतयुग में ऐसे नहीं कहेंगे। यहाँ अच्छे कर्म करेंगे तो एक जन्म के लिए अच्छा फल मिलेगा। कोई ऐसे कर्म करते हैं जो जन्म से ही रोगी होते हैं। यह भी कर्मभोग है ना। बच्चों को कर्म, अकर्म, विकर्म का भी समझाया है। यहाँ जैसा करते हैं तो उसका अच्छा वा बुरा फल पाते हैं। कोई साहूकार बनते हैं तो जरूर अच्छे कर्म किये होंगे। अभी तुम जन्म-जन्मान्तर की प्रालब्ध बनाते हो। गरीब साहूकार का फ़र्क तो वहाँ रहता है ना, अभी के पुरूषार्थ अनुसार। वह प्रालब्ध है अविनाशी 21 जन्मों के लिए। यहाँ मिलता है अल्पकाल का। कर्म तो चलता है ना। यह कर्म क्षेत्र है। सतयुग है स्वर्ग का कर्म क्षेत्र। वहाँ विकर्म होता ही नहीं। यह सब बातें बुद्धि में धारण करनी है। कोई विरले हैं जो सदैव प्वाइंट्स लिखते रहते हैं। चार्ट भी लिखते-लिखते फिर थक जाते हैं। तुम बच्चों को प्वाइंट्स लिखनी चाहिए। बहुत महीन-महीन प्वाइंट्स हैं। जो सब तुम कभी याद नहीं कर सकेंगे, खिसक जायेंगी। फिर पछतायेंगे कि यह प्वाइंट तो हम भूल गये। सबका यह हाल होता है। भूलते बहुत हैं फिर दूसरे दिन याद पड़ेगा। बच्चों को अपनी उन्नति के लिए ख्याल करना है। बाबा जानते हैं कोई विरले यथार्थ रीति लिखते होंगे। बाबा व्यापारी भी है ना। वह है विनाशी रत्नों के व्यापारी। यह है ज्ञान रत्नों के। योग में ही बहुत बच्चे फेल होते हैं। एक्यूरेट याद में कोई घण्टा डेढ़ भी मुश्किल रह सकते हैं। 8 घण्टा तो पुरूषार्थ करना है। तुम बच्चों को शरीर निर्वाह भी करना है। बाबा ने आशिक-माशूक का भी मिसाल दिया है। बैठे-बैठे याद किया और झट सामने आ जाते। यह भी एक साक्षात्कार है। वह उनको याद करते, वह उनको याद करते। यहाँ तो फिर एक है माशूक, तुम सब हो आशिक। वह सलोना माशूक तो सदैव गोरा है। एवर प्योर। बाप कहते हैं मैं मुसाफिर सदैव खूबसूरत हूँ। तुमको भी खूबसूरत बनाता हूँ। इन देवताओं की नेचुरल ब्युटी है। यहाँ तो कैसे-कैसे फैशन करते हैं। भिन्न-भिन्न ड्रेस पहनते हैं। वहाँ तो एकरस नेचुरल ब्युटी रहती है। ऐसी दुनिया में अब से तुम जाते हो। बाप कहते हैं मैं पुराने पतित देश, पतित शरीर में आता हूँ। यहाँ पावन शरीर है नहीं। बाप कहते हैं मैं इनके बहुत जन्मों के अन्त में प्रवेश कर प्रवृत्ति मार्ग की स्थापना करता हूँ। आगे चल तुम सर्विसएबुल बनते जायेंगे। पुरूषार्थ करेंगे फिर समझेंगे। आगे भी ऐसा पुरूषार्थ किया था, अब कर रहे हैं। पुरूषार्थ बिगर तो कुछ भी मिल न सके। तुम जानते हो हम नर से नारायण बनने का पुरूषार्थ कर रहे हैं। नई दुनिया की राजधानी थी, अब नहीं है, फिर होगी। आइरन एज के बाद फिर गोल्डन एज जरूर होगी। राजधानी स्थापन होनी ही है। कल्प पहले मुआफिक। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सरेन्डर के साथ-साथ निश्चयबुद्धि बनना है। कोई भी छी-छी काम न हो। अन्दर कोई भी अवगुण न रहे तब अच्छा पद मिल सकता है।

2) ज्ञान रत्नों का व्यापार करने के लिए बाबा जो अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स सुनाते हैं, उन्हें नोट करना है। फिर उन्हें याद करके दूसरों को सुनाना है। सदा अपनी उन्नति का ख्याल करना है।

वरदान:- वायरलेस सेट द्वारा विनाश काल में अन्तिम डायरेक्शन्स को कैच करने वाले वाइसलेस भव
विनाश के समय अन्तिम डायरेक्शन्स को कैच करने के लिए वाइसलेस बुद्धि चाहिए। जैसे वे लोग वायरलेस सेट द्वारा एक दूसरे तक आवाज पहुंचाते हैं। यहाँ है वाइसलेस की वायरलेस। इस वायरलेस द्वारा आपको आवाज आयेगा कि इस सेफ स्थान पर पहुंच जाओ। जो बच्चे बाप की याद में रहने वाले वाइसलेस हैं, जिन्हें अशरीरी बनने का अभ्यास है वे विनाश में विनाश नहीं होंगे लेकिन स्वेच्छा से शरीर छोड़ेंगे।
स्लोगन:- योग को किनारे कर कर्म में बिजी हो जाना – यही अलबेलापन है।

TODAY MURLI 28 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 28 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 27 October 2019:- Click Here

28/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you cannot claim the kingdom of the world with physical power. For this, you need the power of yoga. This is the law.
Question: In which aspect of Himself is Shiv Baba amazed?
Answer: Baba says: Just look what a wonder it is! Although I teach you, I have not studied this with anyone. No one is My father; no one is My teacher or guru. I do not take rebirth in the world cycle, yet I tell you the story of all your births. I do not enter the cycle of 84 births but I give accurate knowledge of the cycle.

Om shanti. The spiritual Father makes you into spinners of the discus of self realisation, that is, you come to know this cycle of 84 births. You did not know it previously; you have now come to know this from the Father. You definitely enter the cycle of 84 births. I give you children the knowledge of the cycle of 84 births. I am Swadarshanchakradhari, but I do not enter into the cycle of 84 birthspractically. From this, you can understand that Shiva, the Father, has all the knowledge. You Brahmins know that you now become spinners of the discus of self realisation. Baba does not become this. So, how does He gain experience? It is we who become experienced. From where does Baba gain the experience so that He is able to tell us about it? He should have the practical experience. The Father says: I am called the Ocean of Knowledge, but I do not enter the cycle of 84 births. So, from where do I obtain this knowledge? When a teacher teaches, he must surely have studied from someone what he teaches. How did Shiv Baba study? How does He know about the cycle of 84 births when He Himself does not take 84 births? It is because the Father is the Seed that He knows. He Himself does not enter the cycle of 84 births, but He can explain everything to you. This too is a wonder. It is not that the Father has studied any scriptures etc. It is said that this knowledge is fixed within Him according to the drama, and so He relates it to you. Therefore, He is a wonderful Teacher. You should be amazed. This is why He has been given great names: Ishwar, Prabhu, the Knower of all Secrets etc. You are wonder-struck at how God is filled with all the knowledge. Where did He get it from that He is able to explain it to you? He does not have a father who gave Him birth and explained it to Him. You are all brothers and He alone is your Father, the Seed. He sits here and gives you children so much knowledge. He says: I do not take 84 births; you do. So the question would surely arise: Baba, how did you come to know all of this? Baba says: Children, according to the eternal drama, this knowledge which I teach you is in Me from the beginning. This is why I am called God, the Highest on High. He Himself does not enter the cycle, but He has all the knowledge of the beginning, middle and end of the whole world. Therefore, you children should experience so much happiness. From where did He acquire the knowledge of the cycle of 84 births? You receive it from the Father. The Father has the original knowledge. He is called knowledge-full. He did not study with anyone, yet He is called knowledge-full because He has the original knowledge. This is a wonder. That is why this study is remembered as the most elevated study. Children are amazed by the Father. Why is He called knowledge-full? This is the first thing to understand and then, what is the second aspect? When you show this picture to people, they say to you: “This Brahma must have his own soul in him and when he becomes Narayan, he must also have his own soul. Therefore, there are two souls: One of Brahma and the other of Narayan.” However, if you think about it, there are not two separate souls; there is only the one soul. That is only a sample of a deity that is shown. This Brahma becomes Vishnu, that is, he become Narayan. These are called deep matters. The Father gives you very deep knowledge which no one except the Father can teach. Therefore, Brahma and Vishnu are not two souls. So, are there two souls of Saraswati and Lakshmi or is it one? There is only one soul but two bodies. This Saraswati later becomes Lakshmi. Therefore, there is only one soul. The same soul takes 84 births. This is something to be understood. Brahmins become deities and then deities become warriors. Souls shed their bodies and take others. It is the same soul, but this sample is to show how Brahmins become deities. The meaning of “Hum so” is very good. These are called deep aspects. First of all, you have to understand that you are all children of the one Father. All souls are originally residents of the supreme abode. They come here to play their parts. This is a play. The Father sits here and gives you the news of this play. Originally, the Father knows this; no one taught Him. He who has the knowledge of this cycle of 84 births now tells it to you. Then, later, you forget. So, how could a scripture of it be created? The Father has not studied any scriptures. He comes and speaks of new things. For half the cycle, there is the path of devotion. This aspect too is not in the scriptures. Those scriptures are created on the path of devotion according to the drama. Your intellects have a great deal of knowledge of this drama from its beginning to the end. Shiv Baba definitely has to take the support of a human body. He sits here in the body of Brahma and gives you the knowledge of the world cycle. By telling tall stories, human beings have made the duration of the cycle very long. The new world becomes old. The new world is called heaven and the old world is called hell. There is only the one world. Deities live in the new world where there is limitless happiness. The whole world is new at that time. It is now called the old world. The very name is the iron-aged world. It is the same as saying Old Delhi and New Delhi. The Father explains: Sweetest children, in the new world there will be New Delhi. They call it New Delhi here in this old world! How can this be called new? The Father explains that there will be New Delhi in the new world in which Lakshmi and Narayan will rule. That will be called the golden age. You will rule over the whole of Bharat. Your throne will be on the banks of the Januma. At the end, the throne of Ravan’s kingdom too will be there. The throne of Rama’s kingdom will be there, but it will not be called Delhi. It is called Paristhan (land of angels). After that, a name is given to the kingdom according to whichever king rules. At this time, all of you are in the old world. You are studying to go to the new world. You are once again becoming deities from human beings. The Father is the One who is teaching you. You know that the highest-on-high Father has come down here in order to teach you Raj Yoga. You are now at the confluence age and this old, iron-aged world is about to end. The Father has given you the account of this. I enter the body of Brahma. Human beings don’t know which Brahma this is. They have heard of Brahma, the Father of People. You are the people of Brahma. This is why you call yourselves Brahma Kumars and Kumaris. In fact, you incorporeal souls are the children of Shiv Baba. You belong to the clan of Shiva. In this corporeal world, you are brothers and sisters, the children of Prajapita Brahma; there is no other relationship. At this time, you forget all your iron-aged relationships because there is bondage in them. You are going to the new world. Brahmins have topknots. The topknot is the symbol of you Brahmins. This is the clan of you Brahmins. Those brahmins belong to the iron age. Brahmins are usually guides. One set of brahmins accepts offerings of food and the other set of brahmins narrates the Gita. You Brahmins now relate this Gita. They relate the Gita and you too relate the Gita, but just look how much difference there is! You say that Krishna cannot be called God. Krishna is called a deity. He has divine virtues; he can be seen with the physical eyes. You can see in the Shiva Temple that Shiva does not have a body of His own. He is the Supreme Soul, that is, He is God. There is no meaning in the names Ishwar, Prabhu, Bhagawan etc. God is the Supreme Soul whereas you are “non-supreme. Just look! There is so much difference between you souls and that soul! You souls are now studying with the Supreme Soul. He has not studied anything with anyone. He is the Father. You call the Supreme Father, the Supreme Soul “Father”. You also call Him “Teacher” and “Guru”. He is One. No other soul can become the Father, Teacher and Guru. There is only the one Supreme Soul (Paramatma) who is called the Supreme. Everyone first needs a father, then a teacher and lastly a guru. The Father also says: I become your Father, then your Teacher and then I also become the Satguru who grants salvation. There are many gurus but there is only the one Guru who can grant salvation. The Father says: I grant salvation to all of you. When you are in the golden age, all the rest will be in the land of peace, which is called the supreme abode. In the golden age there was the original eternal deity religion. There were no other religions at that time because all the other souls had returned to the land of liberation. The golden age is called salvation. Whilst playing your parts, you come into degradation. You are the ones who come into degradation after being in salvation. You are the ones who take the full 84 births. At that time, as are the king and queen, so the subjects. 900,000 will come at first. The calculation is that 900,000 will take 84 births. Then, others will continue to come later on. The Father explains that not everyone takes 84 births. Only those who come at the beginning will take 84 births. Then, those who come later will take fewer births. The maximum is 84. No other human beings know these matters. Only the Father sits here and explains this. It is written in the Gita: God speaks. You have now come to know that Krishna did not create the original eternal deity religion. It was the Father who established it. The Krishna soul heard this knowledge at the end of his 84th birth and so he became the first one again. These things have to be understood. You have to study every day. You are God’s students. God speaks: I make you into the kings of kings. This is the old world. The new world means the golden age. It is now the iron age. The Father comes and changes impure humans of the iron age into pure deities of the golden age. This is why iron-aged human beings call out: Baba come and purify us! Change us from iron-aged, impure human beings into pure, golden-aged deities. Look how great the difference is! There is limitless sorrow in the iron age. If a child is born they are happy. Tomorrow, if he dies, they are unhappy. They experience sorrow throughout their lives. This is the world of sorrow. The Father is now establishing the world of happiness. He is making you into the deities of heaven. You are now at the most auspicious confluence age. You are becoming the most elevated men and women. You come here in order to become Lakshmi or Narayan. Students have yoga with their teacher because they understand that they will become so-and-so by studying with him. Here, you have yoga with the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, who makes you into deities. He says: Saligram children, remember Me, your Father! Consider yourselves to be souls and remember Me, your Father! He alone is knowledge-full. The Father narrates the true Gita to you, even though He Himself has not studied it. He says: Neither am I anyone’s child, nor have I studied with anyone. I do not have a guru, yet I become the Father, the Teacher and the Guru of you children. He is called the Supreme Soul. He knows the entire world from its beginning, through the middle to the end. You cannot know the beginning, middle and end until He comes and narrates it all. By understanding this cycle, you become rulers of the globe. This Baba is not teaching you. Shiv Baba enters this one and teaches you souls. This is a new aspect and it only takes place at the confluence age. This old world will end. The wealth of some will be buried underground and the wealth of others will be looted. Baba tells the children to open schools and museums to bring benefit to many and make them into deities once again. So many can go there and claim the inheritance of happiness. It is now the kingdom of Ravan. There was happiness in the kingdom of Rama. There is sorrow in the kingdom of Ravan because everyone has become vicious. That is the viceless world. Lakshmi and Narayan also have children, but there is the power of yoga there. The Father is teaching you the power of yoga. You become the masters of the world through the power of yoga. No one can become the master of the world through physical power: the law does not allow that. You children are claiming your sovereignty of the whole world through the power of yoga. This is such an elevated study! The Father says: First of all, make a promise for purity. By becoming pure, you will become the masters of the pure world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Forget all your iron-aged relationships which have now become bondages and consider yourself to be a confluence-aged Brahmin. Listen to the true Gita and relate it to others.
  2. This old world is going to end. Therefore, use everything you have in a worthwhile way. In order to benefit many, in order to change ordinary humans into deities, open schools and museums.
Blessing: May you always be victorious by lighting the firework bomb of soul consciousness with the matchstick of determination.
Nowadays, they make bombs of fireworks, but with the matchstick of determination you have to ignite the firework bomb of soul consciousness and thereby finish everything old. Those people waste their money on fireworks whereas you accumulate an income. Theirs are fireworks (atishbaji), whereas yours is the baji (game) of the flying stage and you become victorious with that. So, in order to take the double benefit of igniting and also earning adopt this method.
Slogan: To become a helper in a special task is to take a lift of blessings.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 28 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 October 2019

To Read Murli 27 October 2019:- Click Here
28-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – विश्व का राज्य बाहुबल से नहीं लिया जा सकता, उसके लिए योगबल चाहिए, यह भी एक लॉ है”
प्रश्नः- शिवबाबा स्वयं ही स्वयं पर कौन-सा वन्डर खाते हैं?
उत्तर:- बाबा कहते देखो कैसा वन्डर है – मैं तुम्हें पढ़ाता हूँ, यह मैंने किसी से कभी पढ़ा नहीं। मेरा कोई बाप नहीं, मेरा कोई टीचर नहीं, गुरू नहीं। मैं सृष्टि चक्र में पुनर्जन्म लेता नहीं फिर भी तुम्हें सभी जन्मों की कहानी सुना देता हूँ। खुद 84 के चक्र में नहीं आता लेकिन चक्र का ज्ञान बिल्कुल एक्यूरेट देता हूँ।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप तुम बच्चों को स्वदर्शन चक्रधारी बनाते हैं अर्थात् तुम इस 84 के चक्र को जान जाते हो। आगे नहीं जानते थे। अभी बाप द्वारा तुमने जाना है। 84 जन्मों के चक्र में तुम आते हो जरूर। तुम बच्चों को 84 के चक्र का नॉलेज देता हूँ। मैं स्वदर्शन चक्रधारी हूँ परन्तु प्रैक्टिकल में 84 जन्मों के चक्र में आता नहीं हूँ। तो इससे समझ जाना चाहिए शिव बाप में सारा ज्ञान है। तुम जानते हो हम ब्राह्मण अभी स्वदर्शन चक्रधारी बनते हैं। बाबा नहीं बनते हैं। फिर उनमें अनुभव कहाँ से आया? हमको तो अनुभव प्राप्त होता है। बाबा कहाँ से अनुभव लाते हैं जो तुमको सुनाते हैं? प्रैक्टिकल अनुभव होना चाहिए ना। बाप कहते हैं मुझे ज्ञान का सागर कहते हैं परन्तु मैं तो 84 जन्मों के चक्र में आता नहीं हूँ। फिर मेरे में यह ज्ञान कहाँ से आया? टीचर पढ़ाते हैं तो जरूर खुद पढ़ा हुआ है ना। यह शिवबाबा कैसे पढ़ा? इनको कैसे 84 के चक्र का मालूम पड़ा, जबकि खुद 84 जन्मों में नहीं आता है। बाप बीजरूप होने कारण जानते हैं। खुद 84 के चक्र में नहीं आते हैं। परन्तु तुमको सब समझाते हैं, यह भी कितना वन्डर है। ऐसे भी नहीं, बाप कोई शास्त्र आदि पढ़ा हुआ है। कहा जाता है ड्रामा अनुसार उसमें यह नॉलेज नूंधी हुई है जो तुमको सुनाते हैं। तो वन्डरफुल टीचर हुआ ना। वन्डर खाना चाहिए ना इसलिए इनको बड़े-बड़े नाम दिये हैं। ईश्वर, प्रभू, अन्तर्यामी आदि-आदि। तुम वन्डर खाते हो ईश्वर में कैसे सारी नॉलेज भरी हुई है। उनमें आई कहाँ से जो तुमको समझाते हैं? उनको तो कोई बाप भी नहीं, जिससे जन्म लिया हो वा समझा हो। तुम सब भाई-भाई हो। वह एक कैसे तुम्हारा बाप है, बीजरूप है। कितनी नॉलेज बैठ बच्चों को सुनाते हैं। कहते हैं 84 जन्म मैं नहीं लेता हूँ, तुम लेते हो। तो जरूर प्रश्न उठेगा ना – बाबा आपको कैसे मालूम पड़ा। बाबा कहते हैं – बच्चे, अनादि ड्रामा अनुसार मेरे में पहले से यह नॉलेज है, जो तुमको पढ़ाता हूँ इसलिए ही मुझे ऊंच ते ऊंच भगवान् कहा जाता है। खुद चक्र में नहीं आते परन्तु उनमें सारी सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज है। तो तुम बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। उनको 84 के चक्र की नॉलेज कहाँ से मिली? तुमको तो मिली बाप से। बाप में ओरीज्नली नॉलेज है। उनको कहा ही जाता है नॉलेजफुल। कोई से पढ़ा भी नहीं है। तो भी उनको ओरीज्नली मालूम है इसलिए नॉलेजफुल कहा जाता है। यह वन्डर है ना इसलिए यह ऊंच ते ऊंच पढ़ाई गाई जाती है। बच्चों को वन्डर लगता है बाप पर। उनको क्यों नॉलेजफुल कहा जाता – एक तो यह समझने की बात है, दूसरी फिर क्या बात है? यह चित्र तुम दिखाते हो तो कोई पूछेंगे कि ब्रह्मा में भी अपनी आत्मा होगी और यह जो नारायण बनते हैं उनमें भी अपनी आत्मा होगी। दो आत्मायें हैं ना। एक ब्रह्मा, एक नारायण की। परन्तु विचार करेंगे तो यह कोई दो आत्मायें नहीं हैं। आत्मा एक ही है। यह एक सैम्पुल दिखाया जाता है देवता का। यह ब्रह्मा सो विष्णु अर्थात् नारायण बनते हैं, इसको कहा जाता है गुह्य बातें। बाप बहुत गुह्य नॉलेज सुनाते हैं जो और कोई पढ़ा न सके सिवाए बाप के। तो ब्रह्मा और विष्णु की कोई दो आत्मायें नहीं हैं। वैसे ही सरस्वती और लक्ष्मी – इन दोनों की दो आत्मायें हैं या एक? आत्मा एक है, शरीर दो हैं। यह सरस्वती ही फिर लक्ष्मी बनती है इसलिए एक आत्मा गिनी जायेगी। 84 जन्म एक ही आत्मा लेती है। यह बड़ी समझ की बात है। ब्राह्मण सो देवता, देवता सो क्षत्रिय बनते हैं। आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। आत्मा एक ही है, एक यह सैम्पुल दिखाया जाता है – कैसे ब्राह्मण सो देवता बनते हैं। हम सो का अर्थ कितना अच्छा है। इनको कहा जाता है गुह्य-गुह्य बातें। इसमें भी पहले-पहले तो यह समझ चाहिए कि हम एक बाप के बच्चे हैं। सभी आत्मायें असुल परम-धाम में रहने वाली हैं। यहाँ पार्ट बजाने आई हैं। यह खेल है। बाप तुमको इस खेल का समाचार बैठ सुनाते हैं। बाप तो ओरीज्नली जानते ही हैं। उनको कोई ने सिखलाया नहीं है। इस 84 के चक्र को वही जानते हैं जो इस समय तुमको सुनाते हैं। फिर तुम भूल जाते हो। फिर उनका शास्त्र कैसे बन सकता। बाप तो कोई शास्त्र पढ़ा हुआ नहीं है। फिर कैसे आकर नई-नई बातें सुनाते हैं, आधाकल्प है भक्ति मार्ग। यह बात भी शास्त्रों में नहीं है। यह शास्त्र भी ड्रामा अनुसार भक्ति मार्ग में बने हैं। तुम्हारी बुद्धि में शुरू से लेकर अन्त तक इस ड्रामा की कितनी बड़ी नॉलेज है। उनको जरूर मनुष्य तन का आधार लेना पड़े। शिवबाबा इस ब्रह्मा तन में बैठ इस सृष्टि चक्र की नॉलेज सुनाते हैं। मनुष्यों ने तो गपोड़े लगाकर सृष्टि की आयु ही कितनी लम्बी कर दी है। नई दुनिया सो फिर पुरानी दुनिया बनती है। नई दुनिया को कहा जाता है स्वर्ग, पुरानी को कहा जाता है नर्क। दुनिया तो एक ही है। नई दुनिया में रहते हैं देवी-देवता। वहाँ अपार सुख हैं। सारी सृष्टि नई होती है। अभी इनको पुराना कहा जाता है। नाम ही है आइरन एजड वर्ल्ड। जैसे ओल्ड देहली और न्यु देहली कहा जाता है। बाप समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, न्यु वर्ल्ड में न्यु देहली होगी। यह तो ओल्ड वर्ल्ड में ही कह देते हैं न्यु देहली। इनको न्यु कैसे कहेंगे! बाप समझाते हैं नई दुनिया में नई दिल्ली होगी। उनमें यह लक्ष्मी-नारा-यण राज्य करेंगे। उसको कहा जायेगा सतयुग। तुम इस सारे भारत में राज्य करेंगे। तुम्हारी गद्दी जमुना किनारे पर होगी। पिछाड़ी में रावण राज्य की गद्दी भी यहाँ ही है। राम राज्य की गद्दी भी यहाँ होगी। नाम देहली नहीं होगा। उसको परिस्तान कहा जाता है। फिर जो जैसा राजा होता है वह अपनी गद्दी का ऐसा नाम रखते हैं। इस समय तुम सब पुरानी दुनिया में हो। नई दुनिया में जाने के लिए तुम पढ़ रहे हो। फिर से मनुष्य से देवता बन रहे हो। पढ़ाने वाला है बाप।

तुम जानते हो ऊंचे ते ऊंचे बाप ने नीचे आकर राजयोग सिखाया है। अभी तुम हो संगम पर जबकि कलियुगी पुरानी दुनिया खत्म होनी है। बाप ने इनका हिसाब भी बताया है, मैं आता हूँ ब्रह्मा तन में। मनुष्यों को तो पता ही नहीं है कि ब्रह्मा कौन-सा? सुना है प्रजापिता ब्रह्मा। तुम प्रजा हो ना ब्रह्मा की इसलिए अपने को बी.के. कहलाते हो। वास्तव में शिवबाबा के बच्चे शिववंशी हो जब निराकार आत्मायें हो, फिर साकार में प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे भाई-बहन हो और कोई भी सम्बन्ध नहीं है। इस समय तुम उस कलियुगी सम्बन्ध को भूलते हो क्योंकि उनमें बन्धन है। तुम जाते हो नई दुनिया में। ब्राह्मणों की चोटी होती है। चोटी ब्राह्मणों की निशानी है। तुम ब्राह्मणों का यह कुल है। वह हैं कलियुगी ब्राह्मण। ब्राह्मण अक्सर करके पण्डे होते हैं। एक धामा खाते हैं, दूसरे ब्राह्मण गीता सुनाते हैं। अभी तुम ब्राह्मण यह गीता सुनाते हो, वह भी गीता सुनाते हैं, तुम भी गीता सुनाते हो। फर्क देखो कितना है! तुम कहते हो कृष्ण को भगवान नहीं कह सकते। कृष्ण को तो देवता कहा जाता है। उनमें दैवीगुण हैं। उनको तो इन आंखों से देखा जा सकता है। शिव के मन्दिर में देखेंगे शिव को अपना शरीर है नहीं। वह है परम आत्मा अर्थात् परमात्मा। ईश्वर, प्रभू, भगवान आदि अक्षर का कोई अर्थ नहीं निकलता। परमात्मा ही सुप्रीम आत्मा है। तुम नान सुप्रीम हो। फर्क देखो कितना है, तुम्हारी आत्मा और उस आत्मा में। तुम आत्मायें अभी परमात्मा से सीख रही हो। वह कोई से सीखा नहीं है। यह तो फादर है ना। उस परमपिता परमात्मा को तुम फादर भी कहते, टीचर भी कहते और गुरू भी कहते। है एक ही। और कोई भी आत्मा बाप टीचर गुरू नहीं बन सकती है। एक ही परम आत्मा है उनको कहा जाता है सुप्रीम। हर एक को पहले फादर चाहिए, फिर टीचर चाहिए फिर पिछाड़ी में चाहिए गुरू। बाप भी कहते हैं – मैं तुम्हारा बाप भी बनता हूँ फिर टीचर बनता हूँ और फिर मैं ही तुम्हारा सद्गति दाता सतगुरू भी बनता हूँ। सद्गति देने वाला गुरू है ही एक। बाकी तो गुरू अनेक हैं। बाप कहते हैं मैं तुम सबको सद्गति देता हूँ, तुम सब सतयुग में जायेंगे बाकी सब चले जायेंगे शान्तिधाम, जिसको परमधाम कहते हैं। सतयुग में आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। बाकी कोई धर्म है नहीं और सभी आत्मायें चली जाती है मुक्तिधाम। सद्गति कहा जाता है सतयुग को, पार्ट बजाते-बजाते फिर दुर्गति में आ जाते हैं। तुम ही सद्गति से फिर दुर्गति में आते हो। तुम ही पूरे 84 जन्म लेते हो। यथा राजा-रानी तथा प्रजा जो उस समय होंगे। 9 लाख तो पहले आयेंगे। 84 जन्म 9 लाख तो लेंगे ना फिर दूसरे आते रहेंगे – यह हिसाब किया जाता है। जो बाप समझाते हैं। सब 84 जन्म नहीं लेते हैं, पहले-पहले आने वाले ही 84 जन्म लेते हैं फिर कम-कम लेते आते हैं। मैक्सीमम हैं 84, यह जो बातें हैं और कोई मनुष्य नहीं जानते। बाप ही बैठ समझाते हैं। गीता में है भगवानुवाच। अभी तुम समझ गये हो – आदि सनातन देवी-देवता धर्म कोई कृष्ण ने नहीं रचा। यह तो बाप ही स्थापन करते हैं। कृष्ण की आत्मा ने 84 जन्मों के अन्त में यह ज्ञान सुना है जो पहले नम्बर में आया। यह बातें समझने की हैं। रोज़ पढ़ना है, तुम स्टूडेन्ट हो भगवान के। भगवानुवाच है ना। मैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। यह है पुरानी दुनिया, नई दुनिया माना सतयुग। अभी है कलियुग। बाप आकर कलियुगी पतित से सतयुगी पावन देवता बनाते हैं इसलिए कलियुगी मनुष्य पुकारते हैं – बाबा आकर हमको पावन बनाओ। कलियुगी पतित से सतयुगी पावन बनाओ। फ़र्क देखो कितना है। कलियुग में हैं अपार दु:ख। बच्चा जन्मा सुख हुआ, कल मर गया – दु:खी हो जायेगा। सारी आयु कितना दु:ख होता है। यह है ही दु:ख की दुनिया। अभी बाप सुख की दुनिया स्थापन कर रहे हैं। तुमको स्वर्गवासी देवता बनाते हैं। अभी तुम पुरूषोत्तम संगमयुग पर हो। उत्तम ते उत्तम पुरूष वा नारी बनते हो। तुम आते ही हो यह लक्ष्मी-नारायण बनने के लिए। स्टूडेन्ट टीचर से योग रखते हैं क्योंकि समझते हैं इन द्वारा हम पढ़कर फलाना बनेंगे। यहाँ तुम योग लगाते हो परमपिता परमात्मा शिव से, जो तुम्हें देवता बनाते हैं। कहते हैं मुझ अपने बाप को याद करो, जिसके तुम सालिग्राम बच्चे हो। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो वही नॉलेजफुल है। बाप तुम्हें सच्ची गीता सुनाते हैं परन्तु खुद पढ़ा हुआ नहीं है। कहते हैं मैं किसका बच्चा नहीं, कोई से पढ़ा हुआ नहीं हूँ। मेरा कोई गुरू नहीं। मैं फिर तुम बच्चों का बाप, टीचर, गुरू हूँ। उनको कहा जाता है परम आत्मा। इस सारे सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त को जानते हैं, जब तक वह न सुनावें, तब तक तुम आदि, मध्य, अन्त को समझ न सको। इस चक्र को जानने से तुम चक्रवर्ती राजा बनते हो। तुमको यह बाबा नहीं पढ़ाते हैं, इसमें शिवबाबा प्रवेश कर आत्माओं को पढ़ाते हैं। यह नई बात है ना। यह होते ही हैं संगम पर। पुरानी दुनिया खत्म हो जायेगी, किसकी दबी रही धूल में, किसकी राजा खाए…….। बच्चों को कहते हैं बहुतों का कल्याण करने लिए, फिर से देवता बनाने के लिए यह पाठशाला म्युज़ियम खोलो। जहाँ बहुत आकर सुख का वर्सा पायेंगे। अभी रावण राज्य है ना। राम राज्य में था सुख, रावण राज्य में है दु:ख क्योंकि सब विकारी बन गये हैं। वह है ही निर्विकारी दुनिया। बच्चे तो इन लक्ष्मी-नारायण आदि को भी हैं ना। परन्तु वहाँ है योगबल। बाप तुमको योगबल सिखलाते हैं। योगबल से तुम विश्व के मालिक बनते हो, बाहुबल से कोई विश्व का मालिक बन न सके। लॉ नहीं कहता। तुम बच्चे याद के बल से सारे विश्व की बादशाही ले रहे हो। कितनी ऊंची पढ़ाई है। बाप कहते हैं – पहले-पहले पवित्रता की प्रतिज्ञा करो। पवित्र बनने से ही फिर तुम पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कलियुगी सम्बन्ध जो कि इस समय बन्धन है, उन्हें भूल स्वयं को संगमयुगी ब्राह्मण समझना है। सच्ची गीता सुननी और सुनानी है।

2) पुरानी दुनिया खत्म होनी है इसलिए अपना सब कुछ सफल करना है। बहुतों के कल्याण लिए, मनुष्यों को देवता बनाने के लिए यह पाठशाला वा म्युज़ियम खोलने हैं।

वरदान:- दृढ़ संकल्प की तीली से आत्मिक बाम्ब की आतिशबाजी जलाने वाले सदा विजयी भव
आजकल आतिशबाजी में बाम्ब बनाते हैं लेकिन आप दृढ़ संकल्प की तीली से आत्मिक बाम्ब की आतिशबाजी जलाओ जिससे पुराना सब समाप्त हो जाए। वह लोग तो आतिशबाजी में पैसा गंवाते और आप कमाई जमा करते हो। वह आतिशबाजी है और आपकी उड़ती कला की बाजी है। इसमें आप विजयी बन जाते हो। तो डबल फायदा लो, जलाओ भी, कमाओ भी – यह विधि अपनाओ।
स्लोगन:- किसी विशेष कार्य में मददगार बनना ही दुआओं की लिफ्ट लेना है।

TODAY MURLI 28 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 October 2018 :- Click Here

28/10/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
22/02/84

The experience of the four combined form s of the confluence age.

Today, BapDada is seeing the combined forms of all the children. Does each of you children know your combined form very well? Firstly, you elevated souls are combined with your last old bodies, but bodies that make you extremely valuable. All of you elevated souls are carrying out an elevated task with the support of those bodies and are also experiencing a meeting with BapDada through them. Each one has an old body, but the greatness of that final body is that you elevated souls have an alokik experience through it. Therefore, the soul and body are combined. You mustn’t have any consciousness of it being an old body, but be the master of it and make it work. Therefore, become soul conscious and a karma yogi and enable the physical organs to work.

Secondly, there is the combined form of your alokik form and the Form without an image. Out of the whole cycle, it is only now that you can experience this combined form. This is the experience of the combined form of you and the Father. By always remaining a master almighty authority, always being victorious, always being a destroyer of obstacles for everyone, always having good wishes and elevated feelings, elevated words, elevated drishti and elevated actions, you give others the experience of your being a world benefactor. This makes you an embodiment of solutions to all problems in a second. It makes you a bestower and master bestower of blessings for yourself and for others. Simply remain constantly stable in this combined form and you will easily become an embodiment of success in remembrance and service. The method will just be in name and success will always be with you. At this time, a lot more time is taken up following the method. Success is experienced according to your capacity. However, the more you constantly remain in this alokik, powerful, combined form, the more success you will experience through the method. You will then experience greater attainment than the effort you make. The meaning of being an embodiment of success is that success is already guaranteed for every task. Let this be your practical experience.

The third combined form is: “I, the Brahmin, who am an angel” – the Brahmin form and the final karmateet angelic form. The experience of this combinedform will make you into an image that grants this world visions. By having the awareness of being a Brahmin and an angel as you walk and move around and as you play your part in the corporeal world through your physical body, you will experience yourself to be a companion of Father Brahma, an angel of the subtle region, who has come to the corporeal world into a body for world service. You will experience yourself to be beyond corporeal feelings and one who has adopted an avyakt form. These avyakt feelings, that is, feelings of being an angel, will automatically make you avyakt, that is, they will easily transform the sanskars of gross words and behaviour, of a gross nature and gross feelings. When feelings change, everything changes. Let there always be such avyakt feelings in your form. Let your awareness be that you are Brahmins who are angels. Let that awareness now take a practical form. The form is constantly easily and automatically maintained. To put it into a practical form means that you are always an avyakt angel. To stay in the awareness of sometimes forgetting and sometimes remembering is the first stage. To become the form is the elevated stage.

Fourthly, the future four-armed image – the combined form of Lakshmi and Narayan – because, at this time, you souls are being filled with the sanskars of becoming like both Lakshmi and Narayan. Sometimes, you will become Lakshmi and sometimes, you will become Narayan. Let the combined form of the future reward be just as clear. Today an angel and tomorrow a deity. One moment an angel and the next moment a deity. Your kingdom and your royal form are about to come. They are almost ready. Let your thoughts be clear and powerful in this way, because when your clear and powerful thoughts emerg e, your kingdom will come close. When your thoughts have emerged, they will create the new world, that is, they will bring it into this world. When your thoughts are merged, the new world cannot be made to emerge. The thought of Brahma, along with that of Brahmins too, will reveal the new world on this earth. Father Brahma is still waiting to play the first part in the new world with you Brahmin children because of his promise to go with you. If Brahma alone were simply to become Krishna, then what would he do by himself? He also needs those who are to play with him and study with him. This is why Father Brahma says to the Brahmins: Become equal to me, the father who has adopted the avyakt form, that is, be those with an avyakt form and an angelic stage. Angels will become deities. Do you understand? Only by remaining stable in all these combined forms, will you become complete and perfect. You will become equal to the Father and easily experience success in your deeds.

Double foreigners have a deep desire to have a conversation and to celebrate a meeting with BapDada. You all feel that you should meet Baba today. However, everything has to be considered in this corporeal world. It is the world under the sun, moon and stars. Come to the world beyond all of this and you can sit there all the time. BapDada also loves every child for his or her speciality. Some of you think that certain ones are loved more and that you yourselves are not loved as much. It is not like that. Maharathis are loved because of their own speciality and, in front of the Father, each of you is a maharathi in your own way. You are great souls and therefore maharathis. In order to carry on with the task, someone has to be made an instrument with love. Otherwise, you have all received your own places for the sake of the task. Would anything work if everyone were to become a Dadi? Someone has to be made an instrument. In fact, in your own way, all of you are Dadis. Everyone is called Didi or Dadi. Nevertheless, all of you together have made one an instrument. Did all of you make her the instrument or was it just the Father who made her an instrument? Someone has to be made an instrument for the sake of the activities and according to each one’s task. This doesn’t mean that all of you are not maharathis. You too are maharathis. You are mahavirs. If those who challenge Maya are not maharathis, then what are they?

For BapDada, even the children who do the seven days’ course are maharathis because they only do the weekly course and they then understand that they want to make their lives this elevated. They have issued a challenge and so they are maharathis and mahavirs. BapDada constantly reminds all of you children to put a slogan into practice. One thing is to maintain your original stage and the other is to interact with others. In your original stage, all of you are big, none of you are small. In business activity, someone has to be made an instrument. Therefore, in order to remain constantly successful in your business and activity, the slogan is: Give regard and receive regard. To give regard to others is to receive regard. Receiving is merged in the giving. Give regard and you will receive regard. The way to receive regard is to give it. It is not possible not to receive regard when you give regard. However, give it from your heart, not just superficially for your own gain. Those who give regard from their hearts receive regard in their hearts. If you give superficial regard, you will receive superficial regard. Always give from your heart and receive with your heart. With this slogan, you will always remain free from obstacles, free from waste thoughts and carefree. You won’t then have the worry: What will happen to me? Everything to do with me is already accomplished. It is already guaranteed. You will remain carefree, and the elevated reward of the present and the future is already fixed for such elevated souls. No one can change this. No one can take anyone else’s seat; it is fixed. It is fixed and you are therefore carefree. This is called being equal to the Father and being one who follows the Father. Do you understand?

Baba has special love for the double-foreign children – not superficial love, but love from the heart. BapDada has told you that there is an old song: I came having crossed very high barriers of the world. This is the song of the double foreigners. You crossed all the high barriers of the ocean, religions, countries and languages and belonged to the Father. This is why you are loved by the Father. The people of Bharat were worshippers of the deities anyway; they have not crossed high barriers. However, you double-foreigners have crossed the high barriers so easily. This is why BapDada sings songs from His heart of this speciality of you children. Do you understand? Baba is not telling you this just to please you. Some children playfully say that BapDada pleases everyone. However, Baba pleases each one meaningfully. Ask yourselves whether BapDada is saying this just for the sake of it or whether it is practical. You have crossed high barriers and come here, have you not? You get your ticket with so much effort. As soon as you leave here, you start to save money for it. BapDada sees the love of you children, and the methods you adopt to come here with so much love, and how you actually arrive here, then, seeing the methods of love and the deep love of you loving souls, BapDada is pleased. Ask those from far away how they come here. Even though they have to make effort, at least they arrive here. Achcha.

To those who remain constantly stable in the combined form, to those who remain constantly stable in the avyakt feeling, the same as the Father, to those who constantly experience being an embodiment of success, to those who grant a vision through their powerful equal form, to those who are constantly carefree and are guaranteed to be victorious, to such children, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada speaking to the group from San Francisco:

Do all of you experience yourselves to be special souls of the whole world? This is because, out of all the souls of the world, you special souls have received the fortune of recognising the Father. To recognise the highest-on-high Father is such great fortune! You recognised Him, forged a relationship with Him and experienced benefit. Now, do you experience yourselves to be the masters of all of the Father’s treasures? Since you are always His children, then to be a child of His means always to have a right. Revise this awareness again and again: “Who am I? Whose child am I?” Only those who experience a powerful form of awareness at amrit vela remain powerful. If amrit vela is not powerful, then many obstacles will come throughout the day. Therefore, let amrit vela always be powerful. At amrit vela, the Father Himself comes to give you children special blessings. Those who take these blessings at that time are able to have the stage of an easy yogi throughout the day. So let the combination of study and amrit vela always remain especially powerful. You will then always remain safe.

Speaking to the German group:

Do you always consider yourselves to be world benefactor souls, children of the World Benefactor Father? This means to be full of all treasures. Only when you yourself are full of all treasures can you give to others. Therefore, you are souls who are always full of all treasures, children and so masters. Do you experience this? To say “Father” means to be a child and a master. This awareness automatically makes you a world benefactor, and this awareness makes you constantly fly in happiness. This Brahmin life means to remain full, to fly with happiness and always to have the intoxication of having a right to the Father’s treasures. You are such elevated Brahmin souls. Achcha.

Blessing: May you be a master teacher who gives teachings through your every act and word while you walk and move around.
Just as they have mobile libraries nowadays, similarly, you too are walking and moving master teachers. Always see your students in front of you; you are not alone, your students are always in front of you. You are constantly studying and also teaching. Worthy teachers are never careless in front of their students, they pay attention. When you go to sleep, when you wake up, when you walk and when you eat, think at every moment that you are in a big college and that your students are watching you.
Slogan: To purify your sanskars completely with faith in the self (soul) is elevated yoga.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 28 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 October 2018

To Read Murli 27 October 2018 :- Click Here
28-10-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 22-02-84 मधुबन

संगम पर चार कम्बाइन्ड रूपों का अनुभव

आज बापदादा सभी बच्चों के कम्बाइन्ड रूप को देख रहे हैं। सभी बच्चे भी अपने कम्बाइन्ड रूप को अच्छी रीति जानते हो? एक – श्रेष्ठ आत्मायें, इस अन्तिम पुराने लेकिन अति अमूल्य बनाने वाले शरीर के साथ कम्बाइन्ड हो। सभी श्रेष्ठ आत्मायें इस शरीर के आधार से श्रेष्ठ कार्य और बापदादा से मिलन का अनुभव कर रही हो। है पुराना शरीर लेकिन बलिहारी इस अन्तिम शरीर की है जो श्रेष्ठ आत्मा इसके आधार से अलौकिक अनुभव करती है। तो आत्मा और शरीर कम्बाइन्ड है। पुराने शरीर के भान में नहीं आना है लेकिन मालिक बन इस द्वारा कार्य कराने हैं इसलिए आत्म-अभिमानी बन, कर्मयोगी बन कर्मेन्द्रियों द्वारा कर्म कराते हैं।

दूसरा-अलौकिक विचित्र कम्बाइन्ड रूप। जो सारे कल्प में इस कम्बाइन्ड रूप का अनुभव सिर्फ अब कर सकते हो। वह है ”आप और बाप”। इस कम्बाइन्ड रूप का अनुभव। सदा मास्टर सर्वशक्तिवान सदा विजयी सदा सर्व के विघ्न-विनाशक। सदा शुभ भावना, श्रेष्ठ कामना, श्रेष्ठ वाणी, श्रेष्ठ दृष्टि, श्रेष्ठ कर्म द्वारा विश्व कल्याणकारी स्वरूप का अनुभव कराता है। सेकण्ड में सर्व समस्याओं का समाधान स्वरूप बनाता है। स्वयं के प्रति वा सर्व के प्रति दाता और मास्टर वरदाता बनाता है। सिर्फ इस कम्बाइन्ड रूप में सदा स्थित रहो तो सहज ही याद और सेवा के सिद्धि स्वरूप बन जाओ। विधि निमित्त मात्र हो जायेगी और सिद्धि सदा साथ रहेगी। अभी विधि में ज्यादा समय लगता है। सिद्धि यथा शक्ति अनुभव होती है। लेकिन जितना इस अलौकिक शक्तिशाली कम्बाइन्ड रूप में सदा रहेंगे तो विधि से ज्यादा सिद्धि अनुभव होगी। पुरुषार्थ से प्राप्ति ज्यादा अनुभव होगी। सिद्धि स्वरूप का अर्थ ही है हर कार्य में सिद्धि हुई पड़ी है। यह प्रैक्टिकल में अनुभव हो।

तीसरा कम्बाइन्ड रूप – हम सो ब्राह्मण सो फरिश्ता। ब्राह्मण रूप और अन्तिम कर्मातीत फरिश्ता स्वरूप। इस कम्बाइन्ड रूप की अनुभूति विश्व के आगे साक्षात्कार मूर्त बनायेगी। ब्राह्मण सो फरिश्ता इस स्मृति द्वारा चलते-फिरते अपने को व्यक्त शरीर, व्यक्त देश में पार्ट बजाते हुए भी ब्रह्मा बाप के साथी अव्यक्त वतन के फरिश्ते, व्यक्त देश और देह में आये हैं विश्व सेवा के लिए। ऐसे व्यक्त भाव से परे अव्यक्त रूपधारी अनुभव करेंगे। यह अव्यक्त भाव अर्थात् फरिश्तेपन का भाव स्वत: ही अव्यक्त अर्थात् व्यक्तपन के बोल-चाल, व्यक्त भाव के स्वभाव, व्यक्त भाव के संस्कार सहज ही परिवर्तन कर लेंगे। भाव बदल गया तो सब कुछ बदल जायेगा। ऐसा अव्यक्त भाव सदा स्वरूप में लाओ। स्मृति में है कि ब्राह्मण सो फरिश्ता। अब स्मृति को स्वरूप में लाओ। स्वरूप निरन्तर स्वत: और सहज हो जाता है। स्वरूप में लाना अर्थात् सदा हैं ही अव्यक्त फरिश्ता। कभी भूले, कभी स्मृति में आवे – इस स्मृति में रहना पहली स्टेज है। स्वरूप बन जाना यह श्रेष्ठ स्टेज है।

चौथा है – भविष्य चतुर्भुज स्वरूप। लक्ष्मी और नारायण का कम्बाइन्ड रूप क्योंकि आत्मा में इस समय लक्ष्मी और नारायण दोनों बनने के संस्कार भर रहे हैं। कब लक्ष्मी बनेंगे, कब नारायण बनेंगे। भविष्य प्रालब्ध का यह कम्बाइन्ड स्वरूप इतना ही स्पष्ट हो। आज फरिश्ता, कल देवता। अभी-अभी फरिश्ता, अभी-अभी देवता। अपना राज्य, अपना राज्य स्वरूप आया कि आया। बना कि बना। ऐसे संकल्प स्पष्ट और शक्तिशाली हों क्योंकि आपके इस स्पष्ट समर्थ संकल्प के इमर्ज रूप से आपका राज्य समीप आयेगा। आपका इमर्ज संकल्प नई सृष्टि को रचेगा अर्थात् सृष्टि पर लायेगा। आपका संकल्प मर्ज है तो नई सृष्टि इमर्ज नहीं हो सकती। ब्रह्मा के साथ ब्राह्मणों के इस संकल्प द्वारा नई सृष्टि इस भूमि पर प्रत्यक्ष होगी। ब्रह्मा बाप भी नई सृष्टि में नया पहला पार्ट बजाने के लिए आप ब्राह्मण बच्चों के लिए, साथ चलेंगे के वायदे कारण इन्तजार कर रहे हैं। अकेला ब्रह्मा सो कृष्ण बन जाए, तो अकेला क्या करेगा? साथ में पढ़ने वाले, खेलने वाले भी चाहिए ना इसलिए ब्रह्मा बाप ब्राह्मणों प्रति बोले, कि मुझ अव्यक्त रूपधारी बाप समान अव्यक्त रूपधारी, अव्यक्त स्थितिधारी फरिश्ता रूप बनो। फरिश्ता सो देवता बनेंगे। समझा। इन सब कम्बाइन्ड रूप में स्थित रहने से ही सम्पन्न और सम्पूर्ण बन जायेंगे। बाप समान बन सहज ही कर्म में सिद्धि का अनुभव करेंगे।

डबल विदेशी बच्चों को बापदादा से रूह-रूहान करने वा मिलन मनाने की इच्छा तीव्र है। सभी समझते हैं कि हम आज ही मिल लेवें। परन्तु इस साकार दुनिया में सब देखना पड़ता है। सूर्य चांद के अन्दर की दुनिया है ना। उनसे परे की दुनिया में आ जाओ तो सारा समय बैठ जाओ। बापदादा को भी हर बच्चा अपनी-अपनी विशेषताओं से प्रिय है। कोई समझे यह प्रिय है, हम कम प्रिय हैं। ऐसी बात नहीं है। महारथी अपनी विशेषता से प्रिय हैं और बाप के आगे अपने-अपने रूप से सब महारथी हैं। महान आत्मायें हैं इसलिए महारथी हैं। यह तो कार्य चलाने के लिए किसको स्नेह से निमित्त बनाना होता है। नहीं तो कार्य के निमित्त अपना-अपना स्थान मिला हुआ है। अगर सभी दादी बन जाएं तो काम चलेगा? निमित्त तो बनाना पड़े ना। वैसे अपनी रीति से सब दादियां हो। सभी को दीदी वा दादी कहते तो हैं ना। फिर भी आप सबने मिलकर एक को निमित्त तो बनाया है ना। सभी ने बनाया वा सिर्फ बाप ने बनाया। या सिर्फ निमित्त कारोबार अर्थ अपने-अपने कार्य अनुसार निमित्त बनाना ही पड़ता है। इसका यह मतलब नहीं कि आप महारथी नहीं हो। आप भी महारथी हो। महावीर हो। माया को चैलेन्ज करने वाले महारथी नहीं हुए तो क्या हुए!

बापदादा के लिए सप्ताह कोर्स करने वाला बच्चा भी महारथी है क्योंकि सप्ताह कोर्स भी तब करते जब समझते हैं कि यह श्रेष्ठ जीवन बनानी है। चैलेन्ज किया तो महारथी, महावीर हुआ। बापदादा सदैव एक स्लोगन सभी बच्चों को कार्य में लाने लिए याद दिलाते रहते। एक है अपनी स्वस्थिति में रहना, दूसरा है कारोबार में आना। स्वस्थिति में तो सभी बड़े हो कोई छोटा नहीं। कारोबार में निमित्त बनाना ही पड़ता है इसलिए कारोबार में सदा सफल होने का स्लोगान है – रिगार्ड देना, रिगार्ड लेना। दूसरे को रिगार्ड देना ही रिगार्ड लेना है। देने में लेना भरा हुआ है। रिगार्ड दो तो रिगार्ड मिलेगा। रिगार्ड लेने का साधन ही है देना। आप रिगार्ड दो और आपको नहीं मिले, यह हो नहीं सकता। लेकिन दिल से दो, मतलब से नहीं। जो दिल से रिगार्ड देता है उसको दिल से रिगार्ड मिलता है। मतलब का रिगार्ड देंगे तो मिलेगा भी मतलब का। सदैव दिल से दो और दिल से लो। इस स्लोगन द्वारा सदा ही निर्विघ्न, निरसंकल्प, निश्चिन्त रहेंगे। मेरा क्या होगा यह चिन्ता नहीं रहेगी। मेरा हुआ ही पड़ा है, बना ही पड़ा है, निश्चिन्त रहेंगे। और ऐसी श्रेष्ठ आत्मा की श्रेष्ठ प्रालब्ध वर्तमान और भविष्य निश्चित ही है। इसको कोई बदल नहीं सकता। कोई किसकी सीट ले नहीं सकता, निश्चित है। निश्चित है इसलिए निश्चिंत है, इसको कहा जाता है बाप समान फालो फादर करने वाले। समझा।

डबल विदेशी बच्चों पर तो विशेष स्नेह है। मतलब का नहीं। दिल का स्नेह है। बापदादा ने सुनाया था एक पुराना गीत है – ऊंची-ऊंची दीवारें… यह डबल विदेशियों का गीत है। समुद्र पार करते हुए, धर्म, देश, भाषा सब ऊंची-ऊंची दीवारें पार करके बाप के बन गये, इसलिए बाप को प्रिय हो। भारतवासी तो थे ही देवताओं के पुजारी। उन्होंने ऊंची दीवारें पार नहीं की। लेकिन आप डबल विदेशियों ने यह ऊंची-ऊंची दीवारें कितना सहज पार की इसलिए बापदादा दिल से बच्चों की इस विशेषता का गीत गाते हैं। समझा। सिर्फ खुश करने के लिए नहीं कह रहे हैं। कई बच्चे रमत-गमत में कहते हैं कि बापदादा तो सभी को खुश कर देते हैं। लेकिन खुश करते हैं अर्थ से। आप अपने से पूछो बापदादा ऐसे ही कहते हैं या यह प्रैक्टिकल है! ऊंची-ऊंची दीवारें पार कर आ गये हो ना! कितनी मेहनत से टिकेट निकालते हो। यहाँ से जाते ही पैसे इकट्ठे करते हो ना। बापदादा जब बच्चों का स्नेह देखते हैं, स्नेह से कैसे पहुँचने के लिए साधन अपनाते हैं, किस तरीके से पहुँचते हैं, बापदादा स्नेही आत्माओं का स्नेह का साधन देख, लगन देख, खुश होते हैं। दूर वालों से पूछो कैसे आते हैं? मेहनत करके फिर भी पहुँच तो जाते हैं ना। अच्छा।

सदा कम्बाइन्ड रूप में स्थित रहने वाले, सदा बाप समान अव्यक्त भाव में स्थित रहने वाले, सदा सिद्धि स्वरूप अनुभव करने वाले, अपने समर्थ समान स्वरूप द्वारा साक्षात्कार कराने वाले, ऐसे सदा निश्चिन्त, सदा निश्चित विजयी बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

सानफ्रंसिसको ग्रुप से:- सभी स्वयं को सारे विश्व में विशेष आत्मायें हैं – ऐसे अनुभव करते हो? क्योंकि सारे विश्व की अनेक आत्माओं में से बाप को पहचानने का भाग्य आप विशेष आत्माओं को मिला है। ऊंचे ते ऊंचे बाप को पहचानना यह कितना बड़ा भाग्य है! पहचाना, सम्बन्ध जोड़ा और प्राप्ति हुई। अभी अपने को बाप के सर्व खजानों के मालिक अनुभव करते हो? जब सदा बच्चे हैं तो बच्चे माना ही अधिकारी। इसी स्मृति से बार-बार रिवाइज़ करो। मैं कौन हूँ! किसका बच्चा हूँ! अमृतवेले शक्तिशाली स्मृति स्वरूप का अनुभव करने वाले ही शक्तिशाली रहते हैं। अमृतवेला शक्तिशाली नहीं तो सारे दिन में भी बहुत विघ्न आयेंगे इसलिए अमृतवेला सदा शक्तिशाली रहे। अमृतवेले स्वयं बाप बच्चों को विशेष वरदान देने आते हैं। उस समय जो वरदान लेता है उसका सारा दिन सहजयोगी की स्थिति में रहता है। तो पढ़ाई और अमृतवेले का मिलन यह दोनों ही विशेष शक्तिशाली रहें। तो सदा ही सेफ रहेंगे।

जर्मनी ग्रुप से:- सदा अपने को विश्व कल्याणकारी बाप के बच्चे विश्व कल्याणकारी आत्मायें समझते हो? अर्थात् सर्व खजानों से भरपूर। जब अपने पास खजाने सम्पन्न होंगे तब दूसरों को देंगे ना! तो सदा सर्व खजानों से भरपूर आत्मायें बालक सो मालिक हैं! ऐसा अनुभव करते हो? बाप कहा माना बालक सो मालिक हो गया। यही स्मृति विश्व कल्याणकारी स्वत: बना देती है। और यही स्मृति सदा खुशी में उड़ाती है। यही ब्राह्मण जीवन है। सम्पन्न रहना, खुशी में उड़ना और सदा बाप के खजानों के अधिकार के नशे में रहना। ऐसे श्रेष्ठ ब्राह्मण आत्मायें हो। अच्छा।

वरदान:- अपने हर कर्म और बोल द्वारा चलते फिरते हर आत्मा को शिक्षा देने वाले मास्टर शिक्षक भव 
जैसे आजकल चलती-फिरती लाइब्रेरी होती है, ऐसे आप भी चलते-फिरते मास्टर शिक्षक हो। सदा अपने सामने स्टूडेन्ट देखो, अकेले नहीं हो, सदा स्टूडेन्ट के सामने हो। सदा स्टडी कर भी रहे हो और करा भी रहे हो। योग्य शिक्षक कभी स्टूडेन्ट के आगे अलबेले नहीं होंगे, अटेन्शन रखेंगे। आप सोते हो, उठते हो, चलते हो, खाते हो, हर समय समझो हम बड़े कालेज में बैठे हैं, स्टूडेन्ट देख रहे हैं।
स्लोगन:- आत्म निश्चय से अपने संस्कारों को सम्पूर्ण पावन बनाना ही श्रेष्ठ योग है।
Font Resize