28 may ki murli

TODAY MURLI 28 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

28/05/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, because your intellects hold the knowledge you have received from the Father of the beginning, the middle and the end of the world, you are called spinners of the discus of self-realisation.
Question: What injection does the spiritual Father give you spirits to purify you?
Answer: That of “Manmanabhav”. No one but the spiritual Father can give this injection. The Father says: Sweet children, remember Me! That’s all! It is only by having this remembrance that you souls become pure. There is no need to study Sanskrit etc. for this. The Father speaks to you in plain Hindi. When you spirits have the faith that the spiritual Father is giving you methods to become pure, you will continue to renounce the vices.

Om shanti. The meaning of “Om shanti” has been explained to the children. The soul gives his own introduction. My form is peace and my residence is the land of peace, which is also known as the supreme abode, the land beyond sound (Nirvana). The Father says: Renounce body consciousness, become soul conscious and remember the Father. He is the Purifier. No one knows that they are a soul and that they have come here to play their part. The drama is now coming to an end and we have to return home. This is why Baba says: Remember Me and your sins will be absolved. In the Sanskrit language this is known as “Manmanabhav”. The Father did not say anything to you in Sanskrit. He only explains in this Hindi language. The Government wants there to be just the one language of Hindi. In fact, the Father too only explained in Hindi. However, at this time, because there are many religions, sects and cults, many different languages have been created. In the golden age, there aren’t many different languages as there are here. Those who live in Gujarat have a different language. Whichever village people live in, they have their own language. There are innumerable human beings and innumerable languages. In the golden age there was just the one religion and one language. You children now have the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world in your intellects. This is not mentioned in any of the scriptures. There are no scriptures that contain this knowledge: neither has the accurate duration of the cycle been written in them, nor do they contain any knowledge about it. There is just the one world. The world cycle continues to turn. The new world becomes old and the old world becomes new: this is called the discus of self-realisation. Those who do have knowledge of this cycle are called spinners of the discus of self-realisation. The soul has the knowledge of how this world cycle turns. They have then portrayed Krishna and Vishnu with a discus of self-realisation. The Father now explains: They didn’t have any knowledge. Only the Father gives you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. This is the discus of self-realisation. The discus is nothing to do with the violence of cutting throats. All that they have written is lies. No one, apart from the Father, can give you this knowledge. Since even Brahma, Vishnu and Shankar are called deities, human beings can never be called God. The praise of the Father cannot be the praise of deities. The Father teaches you Raja Yoga. You cannot say that the children should have the same praise as that of the Father. Children are those who take rebirth; the Father doesn’t take rebirth. Children remember their Father. The Highest on High is God. He is ever pure. Children become pure and then become impure. The Father is always pure. The children definitely need the Father’s inheritance. Firstly, you want liberation and then liberation-in-life. The land of peace is called liberation and the land of happiness is called liberation-in-life. Everyone receives liberation, whereas only those who study this knowledge receive liberation-in-life. There truly was liberation-in-life in Bharat. All the rest were in the land of liberation. There was just the land of Bharat in the golden age. It used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. Baba has explained: The maximum number of temples have been built to Lakshmi and Narayan. Birla and others who built those temples do not know how Lakshmi and Narayan received their kingdom or for how long they ruled that kingdom or where they went afterwards; they don’t know anything at all. That is like worshipping dolls; it is called devotion. Those who are worthy of worship then become worshippers. There is a big difference between being worthy of worship and a worshipper. There must be some meaning to this. Those who indulge in vice are called impure. Those who become angry are not called impure; those who indulge in vice are called impure. You receive the nectar of knowledge at this time. Only the one Father is the Ocean of Knowledge. Baba has explained: This Bharat was satopradhan, the most elevated land, whereas it is now tamopradhan. This is now in your intellects. There is no kingdom here; it is the rule of the people by the people. In the golden age there are very few people. There are now so many! Preparations for destruction are being made. Delhi has to become the land of angels, but no one knows this. They think that this is New Delhi. Who will change this old world? No one knows this. It is not even written in any of the scriptures. Only the one Father explains everything. You children are now making preparations for the new world. You are changing from shells into diamonds. Bharat was so solvent. There were no other religions. There are now innumerable religions. Everyone now remembers the merciful Father. They have forgotten that Bharat was the land of happiness. Look at the condition of Bharat now! It used to be heaven. It is the birthplace of the Father. Therefore, according to the drama, He feels compassion for it. Bharat is the ancient land. It is said: Truly, 3000 years before Christ, Bharat was heaven and there were no other religions. This Bharat has now completely fallen to the ground. People sing: Our land of Bharat was the most elevated; the very name was heaven, Swarg. No one knows the praise of Bharat. Only the Father comes and tells you the story of Bharat. The story of Bharat means the story of the world. This is called the story of the true Narayan. Only the Father sits here and explains that exactly 5000 years ago there used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. Their images still exist, but how did they receive their kingdom? What existed before the golden age? What existed before the confluence age? The iron age. This is the confluence age when the Father has to come. I have to come when the old world has to be made new. I come to purify the impure world. People have said that I am omnipresent and that I come in every age. This is why they are confused. Only you know the confluence age. Who are you? On the board, it is written: Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. Who is the Father of Brahma? Shiva, the Highest on High. After Him, there is Brahma and then creation is created through him. Definitely, Brahma is called the Father of People. Shiva is not called the Father of People. Shiva is the incorporeal Father of all souls. He comes here and adopts you through Prajapita Brahma. The Father explains: I have entered this one. You become mouth-born Brahmins through him. I make you into Brahmins through Brahma and then make you into deities. You have now become the children of Brahma. Whose child is Brahma? Is there a name for the Father of Brahma? He is incorporeal Father Shiva. He comes, enters this one, adopts you and makes you into the mouth-born creation. The Father says: I enter this one at the end of the last of his many births. This one belongs to Me and adopts renunciation. Renunciation of what? Of the five vices. There is no need to renounce your home or family. While living at home with your family, you have to remain pure. Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. This is the yoga by which the alloy is removed from you and you become satopradhan. In devotion, no matter how much you bathe in the Ganges, hold sacrificial fires and perform tapasya, you definitely do have to come down. You were satopradhan and are now tamopradhan. Therefore, how can you become satopradhan once again? No one, apart from the Father, can show you this path. The Father tells you everything very easily: Constantly remember Me alone. He is speaking to souls, He does not speak to Gujaratis or Sindhis. This is spiritual knowledge. In the scriptures, they have physical knowledge. It is the spirit that needs knowledge because it is the spirit that has become impure. It is the soul that requires a spiritual injection. The Father is called the spiritual eternal Surgeon. He comes and gives His own introduction: I am your spiritual Surgeon. Because you souls are impure, even your bodies have become diseased. At this time, the people of Bharat, that is, the whole world, are residents of hell. The Father then explains how you can become residents of heaven. The Father says: I come and make all of you children into residents of heaven. You also understand that you truly were residents of hell. The iron age is called hell. It is now the end of hell. At this time, the people of Bharat are in the depths of hell. You cannot call this a sovereignty. They continue to fight and quarrel among themselves. The Father is now making you worthy of going to heaven and you should therefore obey Him. People don’t know their own religious scripture or their Father. The Father says: It was I, not Shri Krishna, who made you pure from impure. Krishna was the number one pure soul. He is also called the ugly and the beautiful one. The Krishna soul has now become ugly by taking rebirth. By sitting on the pyre of lust, souls have become ugly. Why do they show a dark form of Jagadamba? No one knows this. Just as Krishna has been shown dark blue, in the same way, they have also portrayed Jagadamba as dark. You are now ugly and will then become beautiful. You can explain that Bharat was very beautiful. If you want to see the beauty of heaven, you can see a model of it in Ajmer. There used to be golden palaces studded with diamonds in heaven. Now there are palaces of stone; everyone is tamopradhan. You children know that Shiv Baba and Brahma Dada are together. This is why they are called BapDada. The inheritance is received from Shiv Baba. If you say that you receive it from Dada, then what does Shiva have? The inheritance is received from Shiv Baba through Brahma. The land of Vishnu is established through Brahma. It is now the kingdom of Ravan. Everyone, apart from you, is a resident of hell. You are now at the confluence age. You are now changing from impure to pure. You will then become the masters of the world. It is not a human being who is teaching you all of this. Who speaks the murli to you? Shiv Baba! He comes from the supreme region to the old world in an old body. If someone has this faith, he cannot stop himself from coming to meet the Father. He would say: Let me first meet the unlimited Father. He wouldn’t be able to wait. He would say: Take me immediately to the unlimited Father who makes us into the masters of heaven! Let me at least go and see who this chariot of Shiv Baba is. Those people decorate a horse. They have a sash as a symbol. That was the chariot of Mohammad who established that religion. The people of Bharat apply a tilak on a bull and place it in a temple. They believe that Shiva rode a bull. Neither Shiva nor Shankar rode a bull. People don’t understand anything at all! Shiva is incorporeal, so how could He ride a bull? He would need legs to be able to sit on a bull. That is blind faith. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Drink the nectar of knowledge you receive from the Father and also enable others to drink it. In order to become worthy of worship from a worshipper, renounce the vices.
  2. Obey the Father, who makes you worthy of going to heaven, and do everything He tells you to do. Become one whose intellect has total faith.
Blessing: May you be a lucky star by invoking your perfect form and become free from the cycle of coming and going.
Now, invoke your perfect stage and your perfect form and that form will constantly be in your awareness. You will then become free from the cycle of sometimes having a high stage and sometimes a low stage (the cycle of coming and going) which spins when you repeatedly come into the cycle of sometimes remembering and sometimes forgetting. People want to become free from the cycle of birth and death, whereas you become free from wasteful matters and become a sparkling lucky star.
Slogan: To be influenced by any obstacle means that there is a flaw in the diamond.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 28 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

28-05-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप द्वारा तुम्हें जो सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज मिली है, इसे तुम बुद्धि में रखते हो इसलिए तुम हो स्वदर्शन चक्रधारी”
प्रश्नः- रूह को पावन बनाने के लिए रूहानी बाप कौन सा इन्जेक्शन लगाते हैं?
उत्तर:- मनमनाभव का। यह इन्जेक्शन रूहानी बाप के सिवाए कोई लगा नहीं सकता। बाप कहते हैं मीठे बच्चे – तुम मुझे याद करो। बस। याद से ही आत्मा पावन बन जायेगी। इसमें संस्कृत आदि पढ़ने की भी जरूरत नहीं है। बाप तो हिन्दी में सीधे शब्दों में सुनाते हैं। रूह को जब यह निश्चय हो जाता है कि रूहानी बाप हमें पावन बनने की युक्ति बता रहे हैं तो विकारों को छोड़ती जाती है।

ओम् शान्ति। ओम् शान्ति का अर्थ तो बच्चों को समझाया है। आत्मा अपना परिचय देती है। मेरा स्वरूप शान्त है और मेरा रहने का स्थान शान्तिधाम है, जिसको परमधाम, निर्वाणधाम भी कहा जाता है। बाप भी कहते हैं कि देह-अभिमान छोड़ देही-अभिमानी बनो, बाप को याद करो। वह है पतित-पावन। यह कोई भी नहीं जानते कि हम आत्मा हैं। यहाँ आये हैं पार्ट बजाने। अब ड्रामा पूरा होता है, वापिस जाना है, इसलिए कहते हैं, मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। इसको ही संस्कृत में कहते हैं, मनमनाभव। बाप ने कोई संस्कृत में नहीं कहा है। बाप तो इस हिन्दी भाषा में समझाते हैं। जैसे गवर्मेन्ट कहती है, एक ही हिन्दी भाषा होनी चाहिए। बाप ने भी वास्तव में हिन्दी में ही समझाया है। परन्तु इस समय अनेक धर्म, मठ, पंथ होने के कारण भाषायें भी अनेक प्रकार की कर दी हैं। सतयुग में इतनी भाषायें होती नहीं, जितनी यहाँ हैं। गुजरात में रहने वालों की भाषा अलग। जो जिस गाँव में रहते हैं, वह वहाँ की भाषा जानते हैं। अनेक मनुष्य हैं, अनेक भाषायें हैं। सतयुग में तो एक ही धर्म, एक ही भाषा थी। अभी तुम बच्चों को सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज बुद्धि में है, यह कोई शास्त्र में नहीं है। ऐसा कोई शास्त्र नहीं जिसमें यह नॉलेज हो। न कल्प की आयु का ही लिखा हुआ है, न किसको मालूम है। सृष्टि तो एक ही है। सृष्टि का चक्र फिरता रहता है। नई से पुरानी, पुरानी से फिर नई होती है, इसको ही कहा जाता है, स्वदर्शन चक्र। जिसको इस चक्र का नॉलेज है, उसको कहा जाता है स्वदर्शन चक्रधारी। आत्मा को ज्ञान रहता है, यह सृष्टि चक्र कैसे फिरता है, वह फिर कृष्ण को, विष्णु को स्वदर्शन चक्र दे देते हैं। अब बाप समझाते हैं, उन्हों को तो नॉलेज थी नहीं। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का नॉलेज बाप ही देते हैं। यह है स्वदर्शन चक्र। बाकी कोई हिंसा की बात नहीं, जिससे गला कट जाए। यह सब झूठ लिख दिया है। यह नॉलेज बाप के सिवाए कोई मनुष्य मात्र दे न सकें। मनुष्य को कभी भगवान कह नहीं सकते, जबकि ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को भी देवता कहा जाता है। जो बाप की महिमा है, वह देवताओं की भी नहीं। बाप तो राजयोग सिखा रहे हैं। ऐसे नहीं कहेंगे बच्चों की भी वही महिमा है, जो बाप की है। बच्चे फिर भी पुनर्जन्म लेते हैं, बाप तो पुनर्जन्म में नहीं आते हैं। बच्चे, बाप को याद करते हैं। ऊंचे ते ऊंचा है भगवान, वह सदा पावन है। बच्चे पावन बन फिर पतित बनते हैं। बाप तो है ही पावन। बाप का वर्सा भी जरूर चाहिए, बच्चों को। एक तो मुक्ति चाहिए, दूसरा जीवनमुक्ति चाहिए। शान्तिधाम को मुक्ति, सुखधाम को जीवनमुक्ति कहा जाता है। मुक्ति तो सबको मिलती है। जीवनमुक्ति जो पढ़ेंगे उनको मिलेगी। भारत में बरोबर जीवन-मुक्ति थी, बाकी सब इतने मुक्तिधाम में थे। सतयुग में सिर्फ एक ही भारत खण्ड था। लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। बाबा ने समझाया है, लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर सबसे जास्ती बनाते हैं। बिड़ला आदि जो मन्दिर बनाते हैं, वह यह नहीं जानते कि लक्ष्मी-नारायण को यह बादशाही कहाँ से मिली, कितना समय राज्य किया। फिर कहाँ चले गये, कुछ भी नहीं जानते। तो जैसे गुड़ियों की पूजा हुई ना, इसको कहा जाता है, भक्ति। आपेही पूज्य फिर आपेही पुजारी। पूज्य और पुजारी में बहुत फर्क है, उनका भी अर्थ होगा ना। पतित उनको कहा जाता है, जो विकारी हैं। क्रोधी को पतित नहीं कहेंगे, जो विकार में जाते हैं उनको पतित कहा जाता है। इस समय तुमको ज्ञान अमृत मिलता है। ज्ञान का सागर है ही एक बाप। बाबा ने समझाया है – यह भारत ही सतोप्रधान ऊंच ते ऊंच था, अभी तमोप्रधान है, यह तुम्हारी बुद्धि में है। यहाँ कोई राजाई तो है नहीं। यह है ही प्रजा का प्रजा पर राज्य। सतयुग में बहुत थोड़े होते हैं, अभी तो कितने हैं। विनाश की तैयारियाँ भी होती हैं। देहली परिस्तान तो बनना ही है। परन्तु यह कोई जानते नहीं हैं। वह तो समझते हैं, यह न्यु देहली है। इस पुरानी दुनिया को पलटाने वाला कौन है! यह किसको पता नहीं है। कोई शास्त्र में भी नहीं है। समझाने वाला एक ही बाप है। अभी तुम बच्चे नई दुनिया के लिए तैयारी कर रहे हो। कौड़ी से हीरे मिसल बन रहे हो। भारत कितना सॉलवेन्ट था, दूसरा कोई धर्म नहीं था। अभी तो अनेक धर्म हैं। अब रहमदिल बाप को याद करते हैं। भारत सुखधाम था, यह भूल गये हैं। अब तो भारत का क्या हाल है। नहीं तो भारत हेविन था। बाप का जन्म स्थान है ना। तो ड्रामा अनुसार उनको तरस आ जाता है। भारत तो प्राचीन देश है। कहते भी हैं बरोबर क्राइस्ट से 3 हजार वर्ष पहले भारत स्वर्ग था और कोई धर्म नहीं था। अभी यह भारत बिल्कुल पट आकर पड़ा है। गाते तो हैं – भारत हमारा देश सबसे ऊंच था। नाम ही था हेविन, स्वर्ग। भारत की महिमा का भी कोई को पता नहीं है। बाप ही आकर भारत की कहानी समझाते हैं। भारत की कहानी माना दुनिया की, इसको सत्य-नारायण की कहानी कहा जाता है। बाप ही बैठ समझाते हैं – पूरे 5 हजार वर्ष पहले भारत में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, जिन्हों के चित्र भी हैं। परन्तु उन्हों को यह राज्य कैसे मिला? सतयुग के आगे क्या था? संगम के आगे क्या था? कलियुग। यह है संगमयुग। जिसमें बाप को आना पड़ता है क्योंकि जब पुरानी दुनिया को नया बनाना हो तभी मुझे आना पड़ता है – पतित दुनिया को पावन बनाने। मेरे लिए फिर कह दिया है सर्वव्यापी। युगे-युगे आता है, तो मनुष्य ही मूँझ गये हैं। संगमयुग को सिर्फ तुम जानते हो। तुम कौन हो – बोर्ड पर लिखा हुआ है, प्रजापिता ब्रह्माकुमार कुमारी। ब्रह्मा का बाप कौन? शिव, ऊंच ते ऊंच। पीछे है ब्रह्मा फिर ब्रह्मा द्वारा रचना होती है। प्रजापिता तो जरूर ब्रह्मा को ही कहा जाता है। शिव को प्रजापिता नहीं कहेंगे। शिव सभी आत्माओं का निराकार बाप है। फिर यहाँ आकर प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा एडाप्ट करते हैं। बाप समझाते हैं मैंने इसमें प्रवेश किया है। उन द्वारा तुम मुख वंशावली ब्राह्मण बने हो। ब्रह्मा द्वारा ही तुमको ब्राह्मण बनाए फिर देवता बनाता हूँ। अभी तुम ब्रह्मा के बच्चे बने हो। ब्रह्मा किसका बच्चा? ब्रह्मा के बाप का कोई नाम है? वह है शिव निराकार बाप। वह आकर इनमें प्रवेश कर एडाप्ट करते हैं, मुख वंशावली बनाते हैं। बाप कहते हैं, मैं इनके बहुत जन्मों के अन्त में प्रवेश करता हूँ। यह हमारा बन जाता है, संन्यास धारण करते हैं। किसका संन्यास? 5 विकारों का। घरबार छोड़ने की दरकार नहीं। गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र रहना है। मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जायेंगे। यही योग है, जिससे खाद निकल जाती है और तुम सतोप्रधान बन जाते हो। भक्ति में तो भल कितने भी गंगा स्नान करें, जप-तप आदि करें, नीचे उतरना जरूर है। सतोप्रधान थे, अब तमोप्रधान हैं फिर सतोप्रधान कैसे बनें? सो सिवाए बाप के कोई रास्ता बता न सके। बाप तो बिल्कुल ही सहज रीति बताते हैं – मामेकम् याद करो। यह आत्माओं से बात करते हैं। कोई गुजरातियों वा सिन्धियों से बात नहीं करते, यह है ही रूहानी ज्ञान। शास्त्रों में है जिस्मानी ज्ञान। रूह को ही ज्ञान चाहिए, रूह ही पतित बना है, उनको ही रूहानी इन्जेक्शन चाहिए। बाप को कहा जाता है, रूहानी अविनाशी सर्जन। वह आकर अपना परिचय देते हैं कि मैं तुम्हारा रूहानी सर्जन हूँ। तुम्हारी आत्मा पतित होने के कारण शरीर भी रोगी हो गया है। इस समय भारतवासी तथा सारी दुनिया नर्कवासी है, फिर स्वर्गवासी कैसे बन सकती है, सो बाप समझाते हैं। बाप कहते हैं – मैं ही आकर सब बच्चों को स्वर्गवासी बनाता हूँ। तुम भी समझते हो, बरोबर हम नर्कवासी थे। कलियुग को नर्क कहा जाता है। अब नर्क का भी अन्त है। भारतवासी इस समय रौरव नर्क में पड़े हैं, इसको सावरन्टी भी नहीं कहेंगे। लड़ते-झगड़ते रहते हैं। अब बाप स्वर्ग में ले जाने लायक बनाते हैं, तो उनका मानना चाहिए। अपने धर्म-शास्त्र को भी नहीं जानते हैं, बाप को ही नहीं जानते।

बाप कहते हैं – मैंने तुमको पतित से पावन बनाया था न कि श्रीकृष्ण ने। कृष्ण तो पावन नम्बरवन था। उनको कहते भी हैं श्याम-सुन्दर। कृष्ण की आत्मा पुनर्जन्म लेते-लेते अब श्याम बनी है। काम-चिता पर बैठ काले बने हैं। जगत-अम्बा को काली क्यों दिखाते हैं? यह कोई नहीं जानते हैं। जैसे कृष्ण को काला दिखाया है वैसे जगत-अम्बा को भी काला दिखाते हैं। अब तुम काले हो फिर सुन्दर बनते हो। तुम समझा सकते हो भारत बहुत सुन्दर था। सुन्दरता देखनी हो तो अजमेर (सोनी द्वारिका) में देखो। स्वर्ग में सोने हीरे के महल थे। अभी तो पत्थर-भित्तर के हैं, सब तमोप्रधान हैं। तो बच्चे जानते हैं – शिवबाबा, ब्रह्मा दादा दोनों इकट्ठे हैं, इसलिए कहते हैं बापदादा। वर्सा शिवबाबा से मिलता है। अगर दादा से कहेंगे तो बाकी शिव के पास क्या है? वर्सा शिवबाबा से मिलता है, ब्रह्मा द्वारा। ब्रह्मा द्वारा विष्णुपुरी की स्थापना। अभी तो रावण राज्य है सिवाए तुम्हारे सब नर्कवासी हैं। तुम अभी संगम पर हो। अभी पतित से पावन बन रहे हो फिर विश्व के मालिक बन जायेंगे। यह कोई मनुष्य नहीं पढ़ाते हैं। तुमको मुरली कौन सुनाते हैं? शिव-बाबा। परमधाम से आते हैं, पुरानी दुनिया, पुराने शरीर में। कोई को निश्चय हो जाए तो फिर बाप से मिलने के सिवाए रह न सकें। कहें, पहले बेहद के बाप को तो मिलें, ठहर नहीं सकेंगे। कहेंगे, बेहद का बाप जो स्वर्ग का मालिक बनाते हैं, उनके पास हमको फौरन ले चलो। देखें तो सही, शिवबाबा का रथ कौन सा है! वो लोग भी घोड़े को श्रृंगारते हैं। पटका निशानी रखते हैं। वह रथ था मुहम्मद का, जिसने धर्म स्थापन किया। भारतवासी फिर बैल को तिलक दे, मन्दिर में रखते हैं। समझते हैं, इस पर शिव की सवारी हुई। अब बैल पर तो न शिव की, न शंकर की सवारी है। कुछ भी समझते नहीं। शिव निराकार है वह कैसे सवारी करेंगे। टांगे चाहिए जो बैल पर बैठ सकें। यह है अन्धश्रधा। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से जो ज्ञान अमृत मिलता है, उस अमृत को पीना और पिलाना है। पुजारी से पूज्य बनने के लिए विकारों का त्याग करना है।

2) बाप जो स्वर्ग में जाने के लायक बना रहे हैं, उनकी हर बात माननी है, पूरा निश्चयबुद्धि बनना है।

वरदान:- अपने सम्पूर्ण स्वरूप के आह्वान द्वारा आवागमन के चक्र से छूटने वाले लक्की सितारे भव
अब अपनी सम्पूर्ण स्थिति व सम्पूर्ण स्वरूप का आह्वान करो तो वही स्वरूप सदा स्मृति में रहेगा फिर जो कभी ऊंची स्थिति, कभी नीची स्थिति में आने-जाने का (आवागमन का) चक्र चलता है, बार-बार स्मृति और विस्मृति के चक्र में आते हो, इस चक्र से मुक्त हो जायेंगे। वे लोग जन्म-मरण के चक्र से छूटने चाहते हैं और आप लोग व्यर्थ बातों से छूट चमकते हुए लक्की सितारे बन जाते हो।
स्लोगन:- किसी भी विघ्न के वश होना अर्थात् डायमण्ड पर दाग लगाना।

TODAY MURLI 28 MAY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 28 May 2020

28/05/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become soul conscious and remember the Father and you will accumulate the power of yoga. With the power of yoga, you can claim the kingdom of the whole world.
Question: What was not in the thoughts or dreams of you children but which has now become practical?
Answer: You never thought or dreamt that you would study Raj Yoga with God and become the masters of the world or that you would study this study for claiming a kingdom. You now have the infinite happiness that you are receiving power from the Almighty Authority and are claiming the right to the sovereignty of a golden-aged kingdom.

Om shanti. The daughters are sitting here for practice. In fact, it is those who are soul conscious and remembering the Father who should sit here (on the gaddi). If she is not sitting in remembrance, she shouldn’t be called a teacher. There is power in remembrance; there is no power in knowledge. This is called the power of yoga. The expression “power of yoga” is an expression the sannyasis use. The Father does not use difficult words. The Father says: Children, now remember the Father, just as little children remember their parents. Those are physical parents. You children are without images. You receive those images (bodies) here. You are residents of the world where there are no images. There are no images there. First of all, make it firm that you are souls. Therefore, the Father says: Children, become soul conscious! Have the faith that you are souls. You come from the land of nirvana. That is the home of all of you souls. You come here to play your parts. Who comes first of all? Your intellects are aware of this. No one else in the world has this knowledge. The Father says: Forget all the scriptures etc. that you have been studying. People praise Krishna and So-and-so so much. They also praise Gandhi so much. That praise is as though he really did establish the kingdom of God before he left. However, God Shiva says: The laws that existed in the kingdom of the original eternal king and queen were established by the Father. It was the Father who made them into the king and queen by teaching them Raj Yoga. Even those Godly customs and systems were broken. He (Gandhi) said that he didn’t want a kingdom but that he wanted government of the people by the people. What state is that government in now? There is only sorrow and nothing but sorrow. They continue to fight and quarrel among themselves. There are many different opinions. You children are now claiming the kingdom by following shrimat. You have so much power that there are no armies etc. there. There is no question of any fear there. It used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan; it was an undivided kingdom. Duality, which could have caused conflict, was not there. That is called the undivided kingdom. The Father makes you children into deities. Then, from being undivided, you were made into devils by Ravan. You children now know that you residents of Bharat were the masters of the whole world. You claimed the kingdom of the world with just the power of remembrance. You are now claiming that kingdom once again. You claim it every cycle, just with the power of remembrance. There is also power in studying. Similarly, when someone becomes a barrister, he has that power. That power is worth a few pennies. You rule the whole world with the power of yoga. You receive power from the Father, the Almighty Authority. You say: Baba, we claim the sovereignty of the golden age from You every cycle, then we lose it and then we claim it again. You have received the full knowledge. Now, by following shrimat, we are claiming the kingdom of the elevated world. The world also becomes elevated. It is only now that you have the knowledge of the Creator and creation. Even Lakshmi and Narayan would not have the knowledge of how they claimed their kingdom. You are now studying here and you will then go and rule there. When someone takes birth in a good and wealthy home, it is said that he must have done good deeds and made donations and performed charity in his previous birth. You receive a birth according to the acts you have performed. This is now the kingdom of Ravan. Whatever acts people perform here, they are sinful; you have to descend the ladder. Even the ones who were the greatest and highest of all of those who belonged to the deity religion have to come down the ladder. Everyone has to go through the stages of sato, rajo and tamo. Everything becomes old from new. You children should now experience limitless happiness. You never thought or dreamt that you would become the masters of the world. The people of Bharat know that it used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan over the whole world. They were worthy of worship and then became worshippers. It is remembered: “Those who were worthy of worship then became worshippers”. All of this should now be in your intellects. This play is very wonderful. No one knows how we take 84 births. In the scriptures 8.4 million births have been written about. The Father says: All of those are lies of the path of devotion. It is Ravan’s kingdom. It is only in the intellects of you children and of no one else what the kingdom of Rama is and what the kingdom of Ravan is. Ravan is burnt every year. Therefore, he is an enemy. The five vices are enemies of human beings. No one knows who Ravan is or why they burn him. Those who consider themselves to be residents of the confluence age are aware that they are now becoming the most elevated of all human beings. God is teaching us Raj Yoga and changing us from humans into Narayan, from degraded human beings into elevated human beings. You children know that the Highest on High, incorporeal God, is teaching you. Therefore, you should have limitless happiness. Students in a school are aware that they are students. Those teachers who teach are common teachers. Here, God is teaching you. Since you can claim such a high status through this study, you should study very well. It is so easy! You simply have to study for half to three-quarters of an hour every morning. Throughout the whole day, because you are busy at work or business, you forget to have remembrance. This is why you come here in the morning and sit in remembrance. You are told to remember Baba with a lot of love: Baba, You have come to teach us. We now know that you have come once again after 5000 years to teach us. When children come here to Baba, Baba asks them: Have we met before? Sages and sannyasis etc. would never ask this question. There, whoever wants to sit in those satsangs can go and do so. When people are seen to gather somewhere, many others go and join them. You now understand that you also used to go and listen to the Gita and the Ramayana etc. with a great deal of happiness. You didn’t understand anything at that time. That was all the happiness of devotion. People continue to dance in happiness there, but they still continue to come down. There are many different types of hatha yoga etc; they do all of them for good health. The Father explains: All of those are the customs and systems of the path of devotion. None of them knows the Creator or creation. So, what else remains? Look what you became by not knowing the Creator or creation and look what you are becoming by knowing the Creator and creation. By knowing them, you are becoming solvent and, by not knowing them, you same people of Bharat became insolvent. They continue to tell lies. So many things continue to happen in the world. So much gold and money etc. is looted. You children now know that you will build palaces of gold there. Those who study to become barristers are aware inside of what they will do after they pass their examination; they will build a house etc. Why does it not enter your intellects that you are studying to become the princess and princesses of heaven? There should be so much happiness! However, that happiness disappears as soon as you leave here. Many young daughters occupy themselves with this knowledge. Their relatives don’t understand anything and therefore say that a magic spell has been cast on them. They say that they will not allow their daughters to study. Under such circumstances, while you are still dependent on your parents, you have to listen to your parents. We (Baba) cannot take you. Otherwise, there would be a lot of conflict. There was so much conflict in the beginning. A daughter would say that she is 18 years old whereas her father would say that she is only 16 years old, that she is still dependent on him. He would fight in this way and take her away. To be dependent on your father means that you still have to follow your father’s orders. When you are an adult, you can do what you want. There are laws on this. Baba says: It is also a rule here that when you come to the Father, you have to bring a certificate (letter) from your physical father. Then, the manners of each one are also observed. If their manners are not good, they are sent back home. It is the same in a game. If someone doesn’t play well in a game, he or she is told to leave the game; they would make the team lose their honour. You children know that you are now on a battlefield. The Father comes every cycle and enables us to conquer Maya. The main thing is to become pure. Souls have become impure through vice. The Father says: Lust is the greatest enemy. It causes sorrow from its beginning through the middle to the end. Those who become Brahmins then go into the deity religion. You Brahmins are numberwise. When moths go to a flame, some completely sacrifice themselves and die while others simply circle around and fly off. When children come here, some sacrifice themselves to the Flame completely whereas others simply listen to this knowledge and then leave. Earlier, some even wrote in their own blood: “Baba, I belong to You”. In spite of that, Maya defeated them. There is so much battling with Maya. This is then called a battlefield. You understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, is explaining the essence of all the Vedas and scriptures through Brahma. Many pictures have been made. The example of Narad also belongs to this time. All of you say that you will become Lakshmi or Narayan. Baba says: Each of you should look within yourself and see if you are worthy. Check yourself to see that you don’t have any vices. Everyone is a devotee like Narad. That was just an example that was quoted. People on the path of devotion ask if they can marry Shri Lakshmi. The Father says: No! Only when they listen to this knowledge would they be able to receive salvation. Only I, the Purifier, can grant salvation to everyone. You now understand that the Father is liberating you from the kingdom of Ravan. Those pilgrimages are physical. God speaks: Manmanabhav! There is no question of stumbling around in this. All of that stumbling belongs to the path of devotion. For half the cycle it is the day of Brahma and for half the cycle it is the night of Brahma. You understand that it is now to become the day for half the cycle for all of us Brahma Kumars and Kumaris. We will be in the land of happiness; there will not be any devotion there. You children know that you are now becoming the wealthiest of all. Therefore, there should be so much happiness. All of you were like rough stones. The Father is now putting you to the edge (to clean and polish you). Baba is also the Jewel Merchant. According to the drama, Baba has taken an experienced chariot. “A village urchin” has been remembered. How could Krishna have been the village urchin? He used to exist in the golden age. He is rocked in a cradle. He wears a crown. Why should he be called a village urchin? Village urchins would be dirty. You have now come here to become beautiful. The Father puts you on the cutting edge of knowledge. Only once in every cycle do you receive the Company of the Truth. All other company is false. This is why the Father says: Hear no evil! Do not listen to such things that defame you and Me. Kumaris who come into knowledge could say that they have a share in their father’s property. “Why should I not open a centre for serving Bharat?” A daughter has to be donated anyway (in marriage). Ask your father, “Give that share to me so that I can open a centre and many will benefit.” Create such tactics. This is your Godly mission. You change those who have stone intellects into those with divine intellects. Those who belong to our religion will come. In the same family, those who are to be flowers of the deity religion will emerge, whereas the others won’t. It does take effort. The Father purifies all souls and then takes them back home. This is why Baba has told you to explain the confluence age in the picture of the cycle: this side is the iron age and the other side is the golden age. In the golden age, there are deities and in the iron age there are devils. This is called the most auspicious confluence age. The Father makes you into the most elevated human beings. Those who study well will go to the golden age, whereas everyone else will go and stay in the land of liberation. Then, they will come down at their own time. The picture of the cycle is very good. You children should have the enthusiasm to do service, to do such service that we uplift the poor and make them into the masters of heaven. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Check yourself to see whether you are able to become like Shri Lakshmi and Shri Narayan. Do you have any vices in you? Are you a moth who circles around or a moth who sacrifices yourself? Check that your manners are not such that you would cause the Father’s honour to be lost.
  2. In order to stay in limitless happiness, remember the Father early in the morning with a lot of love and study well. God is teaching you and making you into the most elevated human beings. Maintain the intoxication that you are at the confluence age.
Blessing: May you be yuktiyukt (become filled with wisdom) and jeevanmukt (liberated in life) by using spiritual power in every act.
The speciality of this Brahmin life is spirituality. It is only with the power of spirituality that you can transform yourself and others. With this power you receive liberation from many physical bondages. However, in order to be yuktiyukt and instead of being loose in every act, use spiritual power. Experience the power of spirituality at the same time in your thoughts, words and deeds. Those who are yuktiyukt in all three aspects become jeevanmukt (liberated-in-life).
Slogan: With the speciality of truth, continue to experience happiness and power.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 28 MAY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 May 2020

Murli Pdf for Print : – 

28-05-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – देही-अभिमानी बन बाप को याद करो तो याद का बल जमा होगा, याद के बल से तुम सारे विश्व का राज्य ले सकते हो”
प्रश्नः- कौन-सी बात तुम बच्चों के ख्याल-ख्वाब में भी नहीं थी, जो प्रैक्टिकल हुई है?
उत्तर:- तुम्हारे ख्याल ख्वाब में भी नहीं था कि हम भगवान से राजयोग सीखकर विश्व के मालिक बनेंगे। राजाई के लिए पढ़ाई पढ़ेंगे। अभी तुम्हें अथाह खुशी है कि सर्वशक्तिमान बाप से बल लेकर हम सतयुगी स्वराज्य अधिकारी बनते हैं।

ओम् शान्ति। यहाँ बच्चियाँ बैठती हैं प्रैक्टिस के लिए। वास्तव में यहाँ (संदली पर) बैठना उनको चाहिए जो देही-अभिमानी बन बाप की याद में बैठे। अगर याद में नहीं बैठेंगी तो वह टीचर कहला नहीं सकती। याद में शक्ति रहती है, ज्ञान में शक्ति नहीं है। इसको कहा ही जाता है – याद का बल। योगबल संन्यासियों का अक्षर है। बाप डिफीकल्ट अक्षर काम में नहीं लाते। बाप कहते हैं बच्चों अब बाप को याद करो। जैसे छोटे बच्चे माँ-बाप को याद करते हैं ना। वह तो देहधारी हैं। तुम बच्चे हो विचित्र। यह चित्र यहाँ तुमको मिलता है। तुम रहने वाले विचित्र देश के हो। वहाँ चित्र रहता नहीं। पहले-पहले यह पक्का करना है – हम तो आत्मा हैं इसलिए बाप कहते हैं – बच्चे, देही-अभिमानी बनो, अपने को आत्मा निश्चय करो। तुम निर्वाण देश से आये हो। वह तुम सभी आत्माओं का घर है। यहाँ पार्ट बजाने आते हो। पहले-पहले कौन आते हैं? यह भी तुम्हारी बुद्धि में है। दुनिया में कोई नहीं जिसको यह ज्ञान हो। अब बाप कहते हैं शास्त्र आदि जो कुछ पढ़ते हो उन सबको भूल जाओ। कृष्ण की महिमा, फलाने की महिमा कितनी करते हैं। गांधी की भी कितनी महिमा करते हैं। जैसेकि वह रामराज्य स्थापन करके गये हैं। परन्तु शिव भगवानुवाच आदि सनातन राजा-रानी के राज्य का जो कायदा था, बाप ने राजयोग सिखाकर राजा-रानी बनाया, उस ईश्वरीय रस्म-रिवाज को भी तोड़ डाला। बोला राजाई नहीं चाहिए, हमको प्रजा का प्रजा पर राज्य चाहिए। अब उसकी क्या हालत हुई! दु:ख ही दु:ख, लड़ते-झगड़ते रहते हैं। अनेक मतें हो गई हैं। अभी तुम बच्चे श्रीमत पर राज्य लेते हो। इतनी तुम्हारे में ताकत रहती है जो वहाँ लश्कर आदि होता नहीं। डर की कोई बात नहीं। इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, अद्वेत राज्य था। दो थे ही नहीं जो ताली बजे। उसको कहा ही जाता है – अद्वेत राज्य। तुम बच्चों को बाप देवता बनाते हैं। फिर द्वेत से दैत्य बन जाते हैं रावण द्वारा। अभी तुम बच्चे जानते हो हम भारतवासी सारे विश्व के मालिक थे। तुमको विश्व का राज्य सिर्फ याद बल से मिला था। अब फिर मिल रहा है। कल्प-कल्प मिलता है, सिर्फ याद के बल से। पढ़ाई में भी बल है। जैसे बैरिस्टर बनते हैं तो बल है ना। वह है पाई-पैसे का बल। तुम योगबल से विश्व पर राज्य करते हो। सर्वशक्तिमान बाप से बल मिलता है। तुम कहते हो – बाबा, हम कल्प-कल्प आपसे सतयुग का स्वराज्य लेते हैं फिर गँवाते हैं, फिर लेते हैं। तुमको पूरा ज्ञान मिला है। अभी हम श्रीमत पर श्रेष्ठ विश्व का राज्य लेते हैं। विश्व भी श्रेष्ठ बन जाता है। यह रचता और रचना का ज्ञान तुमको अभी है। इन लक्ष्मी-नारायण को भी ज्ञान नहीं होगा कि हमने राजाई कैसे ली! यहाँ तुम पढ़ते हो फिर जाकर राजाई करते हो। कोई अच्छे धनवान के घर में जन्म लेते हैं तो कहा जाता है ना इसने आगे जन्म में अच्छा कर्म किया है, दान-पुण्य किया है। जैसा कर्म ऐसा जन्म मिलता है। अभी तो यह है ही रावण राज्य। यहाँ जो भी कर्म करते हैं वह विकर्म होता है। सीढ़ी उतरनी ही है। सबसे बड़े ऊंच से ऊंच देवी-देवता धर्म वालों को भी सीढ़ी उतरनी है। सतो, रजो, तमो में आना है। हर एक चीज़ नई से फिर पुरानी होती है। तो अभी तुम बच्चों को अथाह खुशी होनी चाहिए। तुम्हारे ख्याल-ख्वाब (संकल्प-स्वप्न) में भी नहीं था कि हम विश्व के मालिक बनते हैं।

भारतवासी जानते हैं कि इन लक्ष्मी-नारायण का सारे विश्व पर राज्य था। पूज्य थे सो फिर पुजारी बने हैं। गाया भी जाता है आपेही पूज्य, आपेही पुजारी। अब तुम्हारी बुद्धि में यह होना चाहिए। यह नाटक तो बड़ा वन्डरफुल है। कैसे हम 84 जन्म लेते हैं, उनको कोई नहीं जानते। शास्त्रों में 84 लाख जन्म लगा देते हैं। बाप कहते हैं यह सब भक्ति मार्ग के गपोड़े हैं। रावण राज्य है ना। राम राज्य और रावण राज्य कैसे होता है, यह तुम बच्चों के सिवाए और कोई की बुद्धि में नहीं है। रावण को हर वर्ष जलाते हैं, तो दुश्मन है ना। 5 विकार मनुष्य के दुश्मन हैं। रावण है कौन, क्यों जलाते हैं – कोई भी नहीं जानते। जो अपने को संगमयुगी समझते हैं उनकी स्मृति में रहता है कि अभी हम पुरूषोत्तम बन रहे हैं। भगवान हमको राजयोग सिखलाकर नर से नारायण, भ्रष्टाचारी से श्रेष्ठाचारी बनाते हैं। तुम बच्चे जानते हो हमको ऊंच ते ऊंच निराकार भगवान पढ़ाते हैं। कितनी अथाह खुशी होनी चाहिए। स्कूल में स्टूडेन्ट की बुद्धि में रहता है ना – हम स्टूडेन्ट हैं। वह तो है कॉमन टीचर, पढ़ाने वाला। यहाँ तो तुमको भगवान पढ़ाते हैं। जब पढ़ाई से इतना ऊंच पद मिलता है तो कितना अच्छा पढ़ना चाहिए। है बहुत इज़ी सिर्फ सवेरे आधा-पौना घण्टा पढ़ना है। सारा दिन धन्धे आदि में याद भूल जाती है इसलिए यहाँ सवेरे आकर याद में बैठते हैं। कहा जाता है बाबा को बहुत प्रेम से याद करो – बाबा, आप हमको पढ़ाने आये हैं, अभी हमको पता पड़ा है कि आप 5 हज़ार वर्ष बाद आकर पढ़ाते हैं। बाबा के पास बच्चे आते हैं तो बाबा पूछते हैं आगे कब मिले हो? ऐसा प्रश्न कोई भी साधू-संन्यासी आदि कभी पूछ न सके। वहाँ तो सतसंग में जो चाहे जाकर बैठते हैं। बहुतों को देखकर सब अन्दर घुस जाते हैं। तुम भी अभी समझते हो – हम गीता, रामायण आदि कितना खुशी से जाकर सुनते थे। समझते तो कुछ नहीं थे। वह सब भक्ति की ही खुशी है। बहुत खुशी में नाचते रहते हैं। परन्तु फिर नीचे उतरते आते हैं। किस्म-किस्म के हठयोग आदि करते हैं। तन्दुरूस्ती के लिए ही सब करते हैं। तो बाप समझाते हैं यह सब है भक्ति मार्ग की रस्म-रिवाज। रचता और रचना को कोई भी नहीं जानते। तो बाकी रहा ही क्या। रचता रचना को जानने से तुम क्या बनते हो और न जानने से तुम क्या बन पड़ते हो? तुम जानने से सालवेन्ट बनते हो, न जानने से वही भारतवासी इनसालवेन्ट बन पड़े हैं। गपोड़े मारते रहते हैं। क्या-क्या दुनिया में होता रहता है। कितने पैसे, सोना आदि लूटते हैं! अब तुम बच्चे जानते हो – वहाँ तो हम सोने के महल बनायेंगे। बैरिस्टरी आदि पढ़ते हैं तो अन्दर में रहता है ना – हम यह इम्तहान पास कर फिर यह करेंगे, घर बनायेंगे। तुमको क्यों नहीं बुद्धि में आता है हम स्वर्ग का प्रिन्स-प्रिन्सेज बनने के लिए पढ़ रहे हैं। खुशी कितनी रहनी चाहिए। परन्तु बाहर जाने से ही खुशी गुम हो जाती है। छोटी-छोटी बच्चियाँ इस ज्ञान में लग जाती हैं। सम्बन्धी कुछ भी समझते नहीं, कह देते जादू है। कहते हैं हम पढ़ने नहीं देंगे। इस हालत में जब तक सगीर हैं तो माँ-बाप का कहना मानना पड़े। हम ले नहीं सकते। बहुत खिट-पिट हो पड़ती है। शुरू में कितनी खिटपिट हुई। बच्ची कहे हम 18 वर्ष की हैं, बाप कहे नहीं, 16 वर्ष की है, सगीर है, झगड़ा कर पकड़ ले जाते थे। सगीर माना ही बाप के हुक्म में चलना है। बालिग है फिर जो चाहे सो करे। कायदे भी हैं ना। बाबा कहते तुम जब बाप के पास आते हो तो कायदा है अपने लौकिक बाप का सर्टीफिकेट (चिट्ठी) लेकर आओ। फिर मैनर्स भी देखने होते हैं। मैनर्स ठीक नहीं हैं तो वापिस जाना पड़ेगा। खेल में भी ऐसे होता है। ठीक नहीं खेलते तो उनको कहेंगे बाहर जाओ। आबरू (इज्जत) गँवाते हो। अभी तुम बच्चे जानते हो हम युद्ध के मैदान में हैं। कल्प-कल्प बाप आकर हमको माया पर जीत पहनाते हैं। मूल बात ही है पावन बनने की। पतित बने हैं विकार से। बाप कहते हैं काम महाशत्रु है। यह आदि-मध्य-अन्त दु:ख देने वाला है। जो ब्राह्मण बनेंगे वही फिर देवी-देवता धर्म में आयेंगे। ब्राह्मणों में भी नम्बरवार होते हैं। शमा पर परवाने आते हैं। कोई तो जल मरते हैं, कोई फेरी पहनकर चले जाते हैं। यहाँ भी आये हैं, कोई तो एकदम फिदा होते हैं, कोई सुनकर फिर चले जाते हैं। आगे तो ब्लड से भी लिखकर देते थे – बाबा, हम आपके हैं। फिर भी माया हरा लेती है। इतनी माया की युद्ध चलती है, इनको ही युद्ध स्थल कहा जाता है। यह भी तुम समझते हो। परमपिता परमात्मा ब्रह्मा द्वारा सभी वेदों-शास्त्रों का सार समझाते हैं। चित्र तो ढेर बना दिये हैं ना। नारद का भी मिसाल इस समय का है। सब कहते हैं – हम लक्ष्मी अथवा नारायण बनेंगे। बाप कहते हैं अपने अन्दर में देखो – हम लायक हैं? हमारे में कोई विकार तो नहीं हैं? नारद भक्त तो सब हैं ना। यह एक मिसाल लिखा है।

भक्ति मार्ग वाले कहते हैं हम श्री लक्ष्मी को वर सकते हैं? बाप कहते हैं कि नहीं, जब ज्ञान सुनें तब सद्गति को पा सकें। मैं पतित-पावन ही सबकी सद्गति करने वाला हूँ। अभी तुम समझते हो बाप हमको रावण राज्य से लिबरेट कर रहे हैं। वह है जिस्मानी यात्रा। भगवानुवाच – मनमनाभव। बस, इसमें धक्के खाने की बात नहीं। वह सब हैं भक्ति मार्ग के धक्के। आधाकल्प ब्रह्मा का दिन, आधाकल्प है ब्रह्मा की रात। तुम समझते हो हम सब बी.के. का अभी आधाकल्प दिन होगा। हम सुखधाम में होंगे। वहाँ भक्ति नहीं होगी। अभी तुम बच्चे जानते हो हम सबसे साहूकार बनते हैं, तो कितनी खुशी होनी चाहिए। तुम सब पहले रफ पत्थर थे, अब बाप सीरान (धार) पर चढ़ा रहे हैं। बाबा जौहरी भी है ना। ड्रामा अनुसार बाबा ने रथ भी अनुभवी लिया है। गायन भी है गांव का छोरा। कृष्ण गांव का छोरा कैसे हो सकता है। वह तो सतयुग में था। उनको तो झूलों में झुलाते हैं। ताज पहनाते हैं फिर गांव का छोरा क्यों कहते? गांव के छोरे श्याम ठहरे। अभी सुन्दर बनने आये हो। बाप ज्ञान की सीरान पर चढ़ाते हैं ना। यह सत का संग कल्प-कल्प, कल्प में एक ही बार मिलता है। बाकी सब हैं झूठ संग इसलिए बाप कहते हैं हियर नो ईविल…. ऐसी बातें मत सुनो जहाँ हमारी और तुम्हारी ग्लानि करते रहते हैं।

जो कुमारियाँ ज्ञान में आती हैं वह तो कह सकती हैं कि हमारा बाप की प्रापर्टी में हिस्सा है। क्यों न हम उनसे भारत की सेवा अर्थ सेन्टर खोलूँ। कन्या दान तो देना ही है। वह हिस्सा हमको दो तो हम सेन्टर खोलें। बहुतों का कल्याण होगा। ऐसी युक्ति रचनी चाहिए। यह है तुम्हारी ईश्वरीय मिशन। तुम पत्थरबुद्धि को पारसबुद्धि बनाते हो। जो हमारे धर्म के होंगे वह आयेंगे। एक ही घर में देवी-देवता धर्म का फूल निकल आयेगा। बाकी नहीं आयेंगे। मेहनत लगती है ना। बाप सभी आत्माओं को पावन बनाकर सबको ले जाते हैं इसलिए बाबा ने समझाया था – संगम के चित्र पर ले जाओ। इस तरफ है कलियुग, उस तरफ है सतयुग। सतयुग में हैं देवतायें, कलियुग में हैं असुर। इसको कहा जाता है पुरूषोत्तम संगमयुग। बाप ही पुरूषोत्तम बनाते हैं। जो पढ़ेंगे वह सतयुग में आयेंगे, बाकी सब मुक्तिधाम में चले जायेंगे। फिर अपने-अपने समय पर आयेंगे। यह गोले का चित्र बड़ा अच्छा है। बच्चों को सर्विस का शौक होना चाहिए। हम ऐसी-ऐसी सर्विस कर, गरीबों का उद्धार कर उनको स्वर्ग का मालिक बनायेंगे। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने आपको देखना है हम श्री लक्ष्मी, श्री नारायण समान बन सकते हैं? हमारे में कोई विकार तो नहीं है? फेरी लगाने वाले परवाने हैं या फिदा होने वाले? ऐसे मैनर्स तो नहीं हैं जो बाप की आबरू (इज्जत) जाये।

2) अथाह खुशी में रहने के लिए – सवेरे-सवेरे प्रेम से बाप को याद करना है और पढ़ाई पढ़नी है। भगवान हमें पढ़ाकर पुरूषोत्तम बना रहे हैं, हम संगमयुगी हैं, इस नशे में रहना है।

वरदान:- रूहानी शक्ति को हर कर्म में यूज़ करने वाले युक्तियुक्त जीवनमुक्त भव
इस ब्राह्मण जीवन की विशेषता है ही रूहानियत। रूहानियत की शक्ति से ही स्वयं को वा सर्व को परिवर्तन कर सकते हो। इस शक्ति से अनेक प्रकार के जिस्मानी बन्धनों से मुक्ति मिलती है। लेकिन युक्तियुक्त बन हर कर्म में लूज़ होने के बजाए, रूहानी शक्ति को यूज़ करो। मन्सा-वाचा और कर्मणा तीनों में साथ-साथ रूहानियत की शक्ति का अनुभव हो। जो तीनों में युक्तियुक्त हैं वो ही जीवनमुक्त हैं।
स्लोगन:- सत्यता की विशेषता द्वारा खुशी और शक्ति की अनुभूति करते चलो।

TODAY MURLI 28 MAY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 May 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 May 2019 :- Click Here

28/05/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, all the souls of the world are ignorant and unhappy. You have to have mercy on them. Give them the Father’s introduction and open their eyes and bring them happiness.
Question: What is the basis of the growth of any centre?
Answer: Service done altruistically with an honest heart. Let there always be an interest in doing service and your bhandari (treasure-store, box) will continue to become full. Where service can be done, you should make arrangements. Do not ask anyone for anything. It is better to die than to ask for anything. Everything will come by itself. You cannot collect funds like people outside do. The centre will not become full by asking for anything. Therefore, make the centre function without asking for anything.

Om shanti. The spiritual children are sitting here. You have the knowledge in your intellects of how you come down from up above at the beginning, just as they show a play about the incarnation of Vishnu. He is seated on his viman and then comes down. You children now understand that the incarnations etc. that they have portrayed are all wrong. You now understand where you souls are really the residents of, how you come here from up above and how you become impure while playing your parts of 84 births. The Father is now making you pure. It should definitely be in the intellects of you students how you go around the cycle of 84 births. This should be in your awareness. The Father alone explains how you take 84 births. Because the cycle has been given a long duration, people are unable to understand such a simple matter, and this is why it is called blind faith. It is in your intellects how the other religions are established. You know that you have been taking rebirth and playing your parts and that you have now reached the end and are now going back. Only you children have this knowledge. No one else in the world knows this knowledge. They say that there was Paradise 5000 years ago but they don’t know what that was. It was surely the original, eternal, deity kingdom but they don’t know that at all. You now understand that you too didn’t know anything previously. Those of other religions are not ignorant of who the founder of their religion is. You now know this and have become knowledge-full. All the rest of the world is ignorant. We had become so sensible, and then we became senseless and ignorant. Even though we are human actors, we didn’t know this. Look what the impact of knowledge is like! Only you know this. So, you children should bubble up inside. Only when you imbibe this will you have that happiness inside you. You know how you came here in the beginning and how you were transferred from the shudra clan into the Brahmin clan. No one except you, in the whole world knows how this world cycle turns. There should be this dance of knowledge taking place inside you. Baba is telling us so much wonderful knowledgethrough which we claim our inheritance. It is written: Through this Raja Yoga, I make you into the king of kings. However, you didn’t understand this before. You now have all the significance of this in your intellects. We have now become Brahmins from shudras. You have this mantra in your intellects. We Brahmins will become deities and then, by descending, we will come down. We take so many rebirths as we go around the cycle. By having this knowledge in your intellects, you should also have that happiness. How can others too receive this knowledge? You continue to have so many thoughts about how to give everyone the Father’s introduction. You Brahmins uplift everyone so much. The Father also uplifts everyone. He makes those who are ignorant constantly happy; their eyes open and there is happiness. Those who have an interest in doing service should feel this inside them and also have a lot of happiness. Where we souls are residents of, how we then come down to play our parts, how we become so elevated, how we then come down and then when the kingdom of Ravan begins: all of this is now in your intellects. There is the difference of day and night between knowledge and devotion. Who has performed devotion from its beginning? You would say that you are the ones who came in the beginning and so you saw a lot of happiness and that you then began to perform devotion. There is the difference of day and night between being worthy of worship and a worshipper. You now have so much knowledge. You should have the happiness of how you have been around the cycle of 84 births. There is a vast difference between 84 births and 8.4 million births. Such a tiny matter doesn’t enter anyone’s intellect. In comparison to hundreds of thousands of years, this is like just one or two days. The good children continues to turn this cycle around in their intellects. Which is why they are called spinners of the discus of self-realisation. This knowledge doesn’t exist in the golden age. There is so much praise of heaven. There was just Bharat there. That which existed has to exist again. Externally, there is nothing to see, but there are visions. You know that this old world is now to end and that you will then go to the new world, numberwise. You now understand how souls come down to play their parts. It isn’t that souls come down from up above as they show in plays. No one can see a soul with their physical eyes. It is a wonderful game how a soul comes and enters a tiny body. This is a Godly study. Your thoughts should race in this, day and night. Once we understand it, it is as though we have seen it and we can then speak about it. Previously, magicians used to make many things emerge. The Father is also called the Magician, the Businessman and the Jewel Merchant. All the knowledge is in the soul. The soul is an ocean of knowledge. Although it is said that God is the Ocean of Knowledge, no one knows who He is or how He is the Magician. Previously, you didn’t know this either. The Father has now come and is making you into deities. You should have so much happiness inside. Only the one Father is knowledge-full and He is also teaching you. Only you children know this. You should churn this inside you day and night. Only the one Father can speak the knowledge of this unlimited play. No one else can relate it. Baba has not seen anything, but He does have all knowledge. The Father says: I don’t enter the golden or silver age, but I give you all the knowledge about them. It is a wonder how the One who has never taken part in that is telling us everything. The Father says: I don’t see anything, nor do I go into the golden and silver ages, but I have such good knowledge that I only come once and speak that to you. It is a wonder how you have played those parts, and yet you don’t know them but the One who hasn’t played any part in that tells you everything. We are actors and we don’t know anything, whereas the Father has so much knowledge. The Father says: I don’t enter the golden or silver age that I would relate the experience of that to you. According to the drama, without seeing or experiencing it, I give you all the knowledge. It is such a wonder how I never come to play a part and yet I explain your whole parts to you. This is why I am called knowledge-full. So, the Father says: Sweetest children, if you want to make progress, you have to consider yourselves to be souls. This is a play. You will perform the play in the same way again; you will become deities. Then, at the end, when you have been around the cycle, you will become human beings. You should be amazed at how Baba has this knowledge in Him. He doesn’t have a guru etc. According to the drama, it is fixed in advance for Him to play this part. This is called the wonder of nature. Each and every thing is wonderful. The Father sits here and explains new things to you. You should remember such a Father so much! You also have to remember the cycle of 84 births. Baba has also explained the significance of this to you. The picture of the variety-form is so good. Only those who make the pictures of Lakshmi and Narayan and Vishnu show how we take 84 births. We will become deities and then warriors, merchants and shudras. Is there any difficulty in remembering this? The Father is knowledge-full. Neither has He studied with anyone nor has He studied any scriptures. You would never have seen anyone who, not having studied anything or adopted gurus, sits and gives you so much knowledge. The Father is so sweet. On the path of devotion, some would consider a particular one to be sweet and others would consider someone else to be sweet. According to how they feel about someone, they would begin to worship that one. The Father sits here and explains all the secrets to you. Souls become embodiments of bliss, and it is the souls that then become unhappy and dirty. On the path of devotion you didn’t know anything. You used to praise Me so much, but you didn’t know anything. This is such a wonderful play. Baba has also explained this whole play. You would never have seen so many pictures of the ladder etc. You now see them and you hear this knowledge, and so you then say that it is really accurate. However, lust is the greatest enemy; you have to conquer it. People become weak when they hear this. No matter how much you explain to them, they just don’t understand. It takes so much effort. You also know that those who understood this in the previous cycle will understand. However many are to become part of the deity family, they will be able to imbibe this. You know that you are establishing the kingdom by following shrimat. You have the Father’s direction: You have to make others similar to yourselves. The Father is giving you all the knowledge. You also relate it. Therefore, surely this chariot of Shiv Baba must also be able to relate it, but he makes himself incognito. You simply continue to remember Shiv Baba. You mustn’t even praise this one. The Bestower of Salvation for All, the One who liberates you from the chains of Maya, is only the One. No one, apart from you children, knows how the Father sits here and explains to you. People don’t even know what Ravan is. They simply continue to burn his effigy every year. An effigy is made of an enemy. You now know that Ravan, who has made Bharat so unhappy and poverty-stricken, is the enemy of Bharat. All are trapped in the claws of Ravan, the five vices. It should enter you children how you can liberate others from Ravan. If you can do service, you should make arrangements. You have to serve altruistically with an honest heart. Baba says: I fill the treasure-store of such children. It is fixed in the drama. When you have a good chance to do service, there is no need to ask. The Father has told you: Continue to do service. Do not ask anyone for anything. It is better to die than to ask for anything. Everything will come to you automatically. The centre doesn’t flourish by asking for anything. You can make the centre function without asking for anything. Everything will continue to come to you. There will be strength in that. You mustn’t collect funds like people outside do. Human beings can never be called God. Knowledge is the seed. The Father, the Seed, sits here and gives you knowledge. The Seed Himself is knowledge-full. Non-living seeds cannot speak. You can speak, you can understand everything. No one understands this unlimited tree. You specially beloved children know this, numberwise, according to your efforts. The Father explains: Maya is very powerful. You also have to tolerate a little. The vices are so strong. Those who do service very well become so slapped by Maya as they move along that they say: I have fallen. While climbing up the ladder, they fall down. So, all the income they had earned is lost. Surely, punishment would be received. They make a promise to the Father; they write it in their blood and then they disappear. The Father sees that, even while so many methods are created in order to make it firm, they still go back to the old world. Baba explains to you so easily. Actors should continue to think about their parts. No one can forget his or her part. The Father continues to explain to you in various ways every day. You also explain to many others, and yet they say: We want to go in front of Baba personally. It is the wonder of the Father. He speaks a murli every day. He is incorporeal. If He doesn’t have a name, form, land or time, how can He speak a murli? They are amazed about this and then they go back firm (after meeting the Father). They want to meet the Father who has come to give such an inheritance. If they meet Him with this recognition, they can imbibe the jewels of knowledge. They can also follow shrimat. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Inculcate knowledge into your life and bubble with happiness. You have to remember the wonderful knowledge and the Bestower of Knowledge and perform the dance of knowledge.
  2. Only remember your own part. Do not even look at the parts of others. Maya is very powerful; therefore, remain cautious. Just remain engrossed in your own progress. Have an interest in doing service.
Blessing: May you become victorious and conquer Maya by constantly staying under the canopy of protection of remembrance and within the line of the codes of conduct.
Remembrance of the Father is the canopy of protection, and to stay under the canopy means to become victorious and a conqueror of Maya. Remain constantly under the canopy of protection of remembrance and within the line of the codes of conduct and no one would then have the courage to come under it. When you go beyond the line of the codes of conduct, Maya then becomes clever in making you belong to her. However, you have been victorious countless times and the rosary of victory is your memorial. Remain constantly powerful with this awareness and you will not be defeated by Maya.
Slogan: Merge all the treasures into yourself and you will continue to experience fullness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 28 MAY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli 27/5/19 : Read Murli

28-05-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – विश्व की सभी आत्मायें अन्जान और दु:खी हैं, आप उन पर उपकार करो, बाप का परिचय देकर खुशी में लाओ, उनकी आंखे खोलो”
प्रश्नः- किसी भी सेन्टर की वृद्धि का आधार क्या है?
उत्तर:- नि:स्वार्थ सच्चे दिल की सेवा। तुम्हें सर्विस का सदा शौक रहे तो हुण्डी भरती रहेगी। जहाँ पर सर्विस हो सकती है वहाँ प्रबन्ध करना चाहिए। मांगना किसी से भी नहीं है। मांगने से मरना भला। आपेही सब कुछ आयेगा। तुम बाहर वालों की तरह चन्दा इकट्ठा नहीं कर सकते। मांगने से सेन्टर ज़ोर नहीं भरेगा इसलिए बिगर मांगे सेन्टर को जमाओ।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चे यहाँ बैठे हैं, बुद्धि में यह ज्ञान है, कैसे शुरू में हम ऊपर से आते हैं। जैसे विष्णु अवतरण का एक खेल दिखलाते हैं। विमान पर बैठकर फिर नीचे आते हैं। अभी तुम बच्चे समझते हो अवतार आदि जो कुछ दिखलाते हैं वह सब रांग हैं। अभी तुम समझते हो – हम आत्मायें असुल में कहाँ के रहने वाले हैं, कैसे ऊपर से फिर यहाँ आते हैं, कैसे 84 जन्मों का पार्ट बजाते पतित बनते हैं? अभी फिर बाप पवित्र बनाते हैं। यह तो जरूर तुम स्टूडेन्ट्स की बुद्धि में होना चाहिए, 84 का चक्र हम कैसे लगाते हैं? यह स्मृति में रहना चाहिए। बाप ही समझाते हैं – तुम कैसे 84 जन्म लेते हो। कल्प की आयु को लम्बा-चौड़ा टाइम देने कारण इतनी सहज बात भी मनुष्य समझते नहीं, इसलिए ब्लाइन्डफेथ कहा जाता है। जो भी और धर्म हैं वह कैसे स्थापन होते हैं, यह भी तुम्हारी बुद्धि में है। तुम जानते हो पुनर्जन्म लेते-लेते, पार्ट बजाते-बजाते अभी अन्त में आकर पहुँचे हैं। अब फिर वापिस जाते हैं। यह नॉलेज तुम बच्चों को ही है। दुनिया में और कोई भी यह नॉलेज नहीं जानते हैं। कहते भी हैं 5 हज़ार वर्ष पहले पैराडाइज़ था। परन्तु वह क्या था, यह नहीं जानते हैं। जरूर आदि सनातन देवी-देवताओं का राज्य था। परन्तु यह बिल्कुल नहीं जानते। तुम समझते हो हम भी पहले कुछ नहीं जानते थे। और धर्म वाले ऐसे थोड़ेही हैं कि अपने धर्म स्थापक को नहीं जानते। तुम अभी जानकार, नॉलेजफुल बने हो। बाकी सारी दुनिया अन्जान है। हम कितने समझदार बने थे, फिर अब बेसमझ अन्जान हो गये हैं। मनुष्य होकर अथवा एक्टर्स होकर हम नहीं जानते थे। नॉलेज का प्रभाव देखो कैसा है! यह तुम ही जानते हो। तो बच्चों को अन्दर में कितना गद्गद् होना चाहिए। जब धारणा हो तब ही अन्दर में वह खुशी आये। तुम जानते हो हम शुरू-शुरू में कैसे आये फिर कैसे शूद्र कुल से ब्राह्मण कुल में ट्रांसफर हुए। यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है, सो तुम्हारे सिवाए दुनिया में कोई भी जानता नहीं है। अन्दर में यह ज्ञान डांस होना चाहिए। बाबा हमको कितनी वन्डरफुल नॉलेज देते हैं, जिस नॉलेज से हम अपना वर्सा पाते हैं। लिखा हुआ भी है इस राजयोग से मैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। परन्तु कुछ समझ में नहीं आता था। अभी बुद्धि में सारा राज़ आ गया है। हम शूद्र से अब सो ब्राह्मण बनते हैं। यह मंत्र भी बुद्धि में है। हम सो ब्राह्मण फिर देवता बनेंगे फिर हम उतरते-उतरते नीचे आते हैं। कितना पुनर्जन्म लेते चक्र लगाते हैं। यह नॉलेज बुद्धि में रहने कारण खुशी भी रहनी चाहिए। औरों को भी यह नॉलेज कैसे मिले? कितने ख्यालात चलते रहते हैं। कैसे सबको बाप का परिचय दें? तुम ब्राह्मण कितना उपकार करते हो। बाप भी उपकार करते हैं ना। जो बिल्कुल ही अन्जान हैं, उन्हों को सदा सुखी बनायें। आंखे खोलें। खुशी होती है ना। जिनको सर्विस का शौक रहता है उन्हों को अन्दर में आना चाहिए, बहुत खुशी होनी चाहिए। हम आत्मायें कहाँ की रहने वाली हैं, फिर कैसे आती हैं पार्ट बजाने? कितने ऊंच बनते हैं फिर कैसे नीचे आते हैं फिर रावण राज्य कब शुरू होता है? यह अभी बुद्धि में आया है।

भक्ति और ज्ञान में रात-दिन का फ़र्क है। शुरू से भक्ति किसने की है? तुम कहेंगे पहले-पहले हम आये तो बहुत सुख देखा फिर हम भक्ति करने लगे। पूज्य और पुजारी में कितना रात-दिन का फ़र्क है। तुम्हारे पास अभी कितना ज्ञान है। खुशी होनी चाहिए ना। कैसे हमने 84 का चक्र लगाया है। कहाँ 84 जन्म, कहाँ 84 लाख! इतनी छोटी-सी बात भी किसके ध्यान में नहीं आती है। लाखों वर्ष की भेंट में तो यह एक-दो रोज़ के बराबर हो जाता है। अच्छे-अच्छे बच्चों की बुद्धि में यह चक्र फिरता रहता है, तब ही कहा जाता है स्वदर्शन चक्रधारी। सतयुग में यह नॉलेज होती नहीं। स्वर्ग का कितना गायन है। वहाँ सिर्फ भारत ही था। जो था वह फिर बनना ही है। बाहर से तो देखने में कुछ नहीं आता है। साक्षात्कार होता है। तुम जानते हो यह पुरानी दुनिया अब ख़त्म होनी है फिर नम्बरवार हम नई दुनिया में आयेंगे। आत्मायें कैसे आती हैं पार्ट बजाने, वह भी तुम समझ गये हो। आत्मायें ऐसे कोई ऊपर से उतरती नहीं हैं, जैसे नाटक में दिखाते हैं। आत्मा को तो इन आंखों से कोई देख भी न सके। आत्मा कैसे आती है, छोटे शरीर में कैसे प्रवेश करती है, बड़ा ही वन्डरफुल खेल है। यह पढ़ाई ईश्वरीय है। इसमें दिन-रात ख्यालात चलने चाहिए। हम एक बार समझ लेते हैं, जैसे कि देख लेते हैं फिर वर्णन करते हैं। आगे जादू वाले लोग बहुत चीज़ें निकाल दिखाते थे। बाप को भी जादूगर, सौदागर, रत्नागर कहते हैं ना। आत्मा में ही सारा ज्ञान ठहरता है। आत्मा ही ज्ञान सागर है। भल कहते हैं परमात्मा ज्ञान का सागर है, परन्तु वह कौन है, कैसे वह जादूगर है, यह किसको भी पता नहीं है। आगे तुम भी नहीं समझते थे। अभी बाप आकर देवता बनाते हैं। अन्दर में कितनी खुशी होनी चाहिए। एक बाप ही नॉलेजफुल है, हमको पढ़ाते भी हैं। यह सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो। यह दिन-रात अन्दर में सिमरण चलना चाहिए। यह बेहद के नाटक का नॉलेज सिर्फ एक बाप ही सुना सकते हैं, और कोई सुना न सके। बाबा ने देखा थोड़ेही है, परन्तु उनमें सारी नॉलेज है। बाप कहते हैं मैं सतयुग-त्रेता में तो नहीं आता हूँ परन्तु नॉलेज सारी सुनाता हूँ। वन्डर लगता है ना। जिसने कभी पार्ट ही नहीं लिया, वह कैसे बतलाते हैं! बाप कहते हैं मैं कुछ भी देखता नहीं हूँ। न मैं सतयुग-त्रेता में आता हूँ परन्तु मेरे में नॉलेज कितनी अच्छी है जो मैं एक ही बार आकर तुमको सुनाता हूँ। तुमने पार्ट बजाया, तुम जानते नहीं हो और जिसने पार्ट ही नहीं बजाया है वह सब सुनाते हैं – वन्डर है ना। हम जो पार्टधारी हैं, हम कुछ नहीं जानते और बाप में कितनी सारी नॉलेज है। बाप कहते हैं मैं थोड़ेही सतयुग-त्रेता में आता हूँ जो तुमको अनुभव सुनाऊं। ड्रामा अनुसार बिगर देखे, अनुभव किये सारी नॉलेज देते हैं। कितना वन्डर हैं – मैं पार्ट बजाने आता ही नहीं और तुमको सारा पार्ट समझाता हूँ, इसलिए ही मुझे नॉलेजफुल कहते हैं।

तो बाप कहते हैं अब मीठे-मीठे बच्चों अपनी उन्नति करनी है तो अपने को आत्मा समझो। यह है खेल। तुम फिर भी ऐसे ही खेल करेंगे। देवी-देवता बनेंगे। फिर अन्त में चक्र लगाए मनुष्य बनेंगे। वन्डर खाना चाहिए ना। बाबा में यह नॉलेज कहाँ से आई? उनका तो कोई गुरू भी नहीं। ड्रामानुसार पहले से ही उनमें पार्ट बजाने की नूँध है। इसको कुदरत कहेंगे ना। हर एक बात वन्डरफुल है। तो बाप बैठ नई-नई बातें समझाते हैं। ऐसे बाप को कितना याद करना चाहिए। 84 के चक्र को भी याद करना है। यह राज़ भी बाबा ने ही समझाया है। विराट रूप का चित्र कितना अच्छा है। जो लक्ष्मी-नारायण अथवा विष्णु का चित्र बनाते हैं, वही दिखाते हैं – हम कैसे 84 जन्मों में आते हैं। हम सो देवता फिर क्षत्रिय, वैश्य फिर शूद्र। यह सिमरण करने में क्या कोई तकल़ीफ है? बाप है नॉलेजफुल। कोई से पढ़ा थोड़ेही है, न शास्त्र आदि ही पढ़ा है। बिगर कुछ भी पढ़े, बिगर गुरू किये इतनी सारी नॉलेज बैठ सुनाये – ऐसा तो कभी देखा नहीं। बाप कितना मीठा है। भक्ति मार्ग में कोई किसको, कोई किसको मीठा समझेंगे। जिसको जो आता है उनकी पूजा करने लग पड़ते हैं। बाबा बैठ सब राज़ समझाते हैं। आत्मा ही आनन्द स्वरूप है, फिर आत्मा ही दु:ख रूप छी-छी बन जाती है। भक्ति मार्ग में तो कुछ भी तुम नहीं जानते थे। मेरी कितनी महिमा करते हैं परन्तु जानते कुछ भी नहीं। यह भी कितना वन्डरफुल खेल है। यह सारा खेल बाबा ने समझाया है। इतने चित्र सीढ़ी आदि के कभी देखे भी नहीं थे। अब देखते हैं, सुनते हैं तो कहते भी हैं यह ज्ञान तो यथार्थ रीति है। परन्तु काम महाशत्रु है, इस पर जीत पानी है, तो यह सुनकर ढीले पड़ जाते हैं। तुम कितना समझाते हो, समझते ही नहीं। कितनी मेहनत लगती है। यह भी जानते हैं कल्प पहले जिन्होंने समझा था वही समझेंगे। दैवी परिवार वाले जितने बनने वाले होंगे उन्हों को ही धारणा होगी। तुम जानते हो हम श्रीमत पर राजधानी स्थापन करते हैं। बाप का डायरेक्शन है औरों को भी आपसमान बनाओ। बाप सब ज्ञान सुना रहे हैं। तुम भी सुना रहे हो। तो जरूर यह शिवबाबा का रथ भी सुना सकता होगा। परन्तु अपने को गुप्त कर देते हैं। तुम शिवबाबा को ही याद करते रहो। इनकी तो उपमा (महिमा) भी नहीं करनी है। सर्व का सद्गति दाता, माया की जंजीरों से छुड़ाने वाला एक ही है।

बाप कैसे बैठ तुमको समझाते हैं – यह तुम बच्चों के सिवाए और कोई को पता ही नहीं है। मनुष्य यह भी नहीं जानते कि रावण क्या चीज़ है। हर वर्ष जलाते ही आते हैं। एफीजी तो दुश्मन का बनाया जाता है ना। तुमको अभी पता पड़ा है कि रावण भारत का दुश्मन है, जिसने भारत को कितना दु:खी, कंगाल बना दिया है। सभी 5 विकारों रूपी रावण के पंजे में फँसे हुए हैं। बच्चों को अन्दर में यह आना चाहिए – कैसे औरों को भी रावण से छुड़ायें। सर्विस हो सकती हैं तो प्रबन्ध करना है। सच्चे दिल से, नि:स्वार्थ भाव से सेवा करनी है। बाबा कहते हैं ऐसे बच्चों की हुण्डी मैं सकारता (भरता) हूँ। ड्रामा में नूँध है। सर्विस का अच्छा चान्स है तो इसमें पूछने का भी नहीं रहता। बाप ने कह दिया है सर्विस करते रहो। मांगो कोई से भी नहीं। मांगने से मरना भला। आपेही तुम्हारे पास आ जायेगा। मांगने से सेन्टर इतना जोर नहीं भरेगा। बिगर मांगे तुम सेन्टर जमाओ, आपेही सब आता रहेगा। उसमें ताकत रहेगी। जैसे बाहर वाले चन्दा इकट्ठा करते हैं, ऐसे तुमको नहीं करना है।

मनुष्य को तो कभी भगवान नहीं कहा जाता। ज्ञान तो है बीज। बीज रूप बाप बैठ तुमको ज्ञान देते हैं। बीज ही नॉलेजफुल है ना। वह जड़ बीज तो वर्णन कर नहीं सकेंगे। तुम वर्णन करते हो। सब बातों को समझ सकते हो। इस बेहद के झाड़ को कोई भी समझते नहीं हैं। तुम अनन्य बच्चे जानते हो नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। बाप समझाते हैं – माया भी प्रबल है। कुछ सहन भी करना पड़ता है। कितने कड़े-कड़े विकार हैं। अच्छे-अच्छे सर्विस करने वालों को चलते-चलते ऐसी माया की चमाट लग जाती है, कहते हैं हम तो गिर गये। सीढ़ी ऊपर चढ़ते-चढ़ते नीचे गिर पड़ते हैं। तो की कमाई सारी चट हो पड़ती है। दण्ड तो जरूर मिलना चाहिए। बाप से प्रतिज्ञा करते हैं, ब्लड से भी लिखकर दिया फिर भी गुम हो गये। बाबा पक्का करने लिए देखते भी हैं, इतनी युक्तियां करते हुए भी फिर दुनिया की तरफ चले जाते हैं। कितना सहज समझाते हैं, पार्टधारी को अपने पार्ट का ही सिमरण करना चाहिए। अपना पार्ट कोई भूल थोड़ेही सकता है। बाप तो रोज़-रोज़ भिन्न-भिन्न प्रकार से समझाते रहते हैं। तुम भी बहुतों को समझाते हो फिर भी कहते हैं हम बाबा के सम्मुख जायें। बाप का तो वन्डर है। रोज़ मुरली चलाते हैं। वह है निराकार। नाम, रूप, देश, काल तो है नहीं। फिर मुरली कैसे सुनायेंगे। वन्डर खाते हैं, फिर पक्के होकर आते हैं। दिल होता है ऐसा बाप वर्सा देने आये हैं, उनसे मिलें। इस पहचान से आकर मिलें तो बाप से ज्ञान रत्न धारण कर सकें। श्रीमत को पालन कर सकें। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान को जीवन में धारण कर खुशी में गद्गद् होना है। वन्डरफुल ज्ञान और ज्ञान दाता का सिमरण कर ज्ञान डांस करना है।

2) अपने पार्ट का ही सिमरण करना है, दूसरों के पार्ट को नहीं देखना है। माया बड़ी प्रबल है इसलिए खबरदार रहना है। अपनी उन्नति में लगे रहो। सर्विस का शौक रखो।

वरदान:- सदा याद की छत्रछाया के नीचे, मर्यादा की लकीर के अन्दर रहने वाले मायाजीत विजयी भव
बाप की याद ही छत्रछाया है, छत्रछाया में रहना अर्थात् मायाजीत विजयी बनना। सदा याद की छत्रछाया के नीचे और मर्यादा की लकीर के अन्दर रहो तो कोई की हिम्मत नहीं अन्दर आने की। मर्यादा की लकीर से बाहर निकलते हो तो माया भी अपना बनाने में होशियार है। लेकिन हम अनेक बार विजयी बने हैं, विजय माला हमारा ही यादगार है इस स्मृति से सदा समर्थ रहो तो माया से हार हो नहीं सकती।
स्लोगन:- सर्व खजानों को स्वयं में समा लो तो सम्पन्नता का अनुभव होता रहेगा।

TODAY MURLI 28 MAY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 May 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 May 2018 :- Click Here

28/05/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to receive help from the Father and claim your full inheritance from Him, become real children. ‘Real’ means those who have total renunciation and make a promise of purity.
Question: In what way is the Father full of mercy? What mercy does He constantly have for the children?
Answer: No matter how many obstacles some children create, no matter how many bad deeds they perform under the influence of Maya, if they realize their mistakes, the Father gives them refuge and says: OK, try again. Remove your defects and become virtuous. The Father is full of mercy, because He knows that the children have nowhere else to go. The Father only wants the children to remain constantly happy.
Song: The heart desires to call You. 

Om shanti. Sweetest children, you can also be called gopes and gopis. There are no gopes and gopis in the golden age. It is a kingdom that exists there. Gopes and gopis exist at the confluence age, when Gopi Vallabh (Father of the gopis) comes. The Father is called Vallabh. Children remember the Father and say: Baba, come once again. The children at all the centres know that Baba must be speaking the murli at this time and that the murli is being recorded on a tape. It would also be written down and be reproduced by litho and sent to them. They will imbibe it and enable others to imbibe it. They know that the gopes and gopis in Madhuban must be listening personally to Gopi Vallabh and that they themselves will hear the same murli after four or five days. They must be having these types of thoughts. They say: Baba when You come, we will begin to smile constantly just as the deities remain constantly cheerful. There, the king, the queen and the subjects all remain cheerful. There is no name or trace of sorrow there. Here, it is government by the people. You children understand that Baba comes and teaches you. Here, it is the poor who study well, just as out of those poor people, one may become an MLA (Member of the Legislative Assembly) or an MP (Member of Parliament). Here, only the poor can study. It is the poor who become heirs. The rich have too many complications. Firstly, they have the intoxication of their wealth and secondly, they have no time and so they cannot sacrifice themselves. Here, you have to sacrifice yourselves with your minds, bodies and wealth. The hearts of the wealthy ones shrink; they have many other concerns. This is why the poor sacrifice themselves very quickly and, among them, it is the kumaris who come first. Mama too was a kumari. She belonged to the Father and said: Mine is Shiv Baba and none other. This is what is meant by sacrificing oneself. While living at home with your family, it is as though you are not there. Only the land of peace and land of happiness remain in your intellects. We are now going to our sweet home and then to our sweet kingdom. While living at home with your family, you have to sustain your creation, but on the basis of shrimat. Only when you sacrifice yourself can you receive shrimat. Only by having yoga with the Almighty Authority can you receive power. If you do not belong to the Father, you cannot receive power. There are real children and there are stepchildren. Even among sannyasis, there are real ones and step ones. Some renounce their homes and families and put on saffron-coloured robes; they are real ones. There are others who are just followers; they live at home with their families; they are said to be step ones; they cannot be called real ones. They cannot receive an inheritance because they remain impure. Here, too, there are real ones who have a rakhi of purity tied. Those who do not remain pure cannot be said to be real children. This is renunciation through Raja Yoga, whereas that renunciation is through hatha yoga. Baba has explained how people call themselves followers of the sannyasis and yet they still live at home with their families. In fact, they can neither be called followers nor sannyasis. They want to make effort for renunciation, but they have bondages. Only those who had renunciation in the previous cycle will have renunciation again. They become real ones whereas others are that in name only. Here, those who belong to the Father are real children. It is the real children who receive help and the inheritance. Step ones cannot receive help. Baba has explained that this is the Court of the knowledge of Indra. Here, all are angels of knowledge. There is great praise of the nine jewels. People wear a ring of nine jewels. Brahmin priests say: Wear this so that your omens can change. They have even praised the gems. In fact, you children are those gems. You children become part of the rosary of victory to the extent that you become serviceable. Baba, who makes you into highest-on-high diamonds, is placed in the centre. Human beings don’t know about such things. They don’t know who the nine jewels are and why they are compared to gems. In the same way, you are compared to rivers; you are rivers of knowledge, whereas others are of water. Therefore, you say: Baba come, so that we can remain constantly cheerful. We will listen to Your murli and explain it to others. Yes, we will then become princes and princesses and play flutes studded with diamonds. There is the desire to play the flute. Krishna too surely had a flute and used to dance when he was a prince. However, to play or speak the murli of knowledge is the task of the Ocean of Knowledge alone. The Father comes and plays the flute of knowledge. Matters of knowledge only apply here. There, there is no question of knowledge. It is you daughters who play this murli (flute) now. There is no knowledge of the three aspects of time in the golden age. There, this knowledge will have disappeared; it does not continue eternally. At that time, there is only the reward. Knowledge is only received once. You are now attaining your reward for 21 births. Once you have attained your reward, Baba goes and sits in the supreme abode. Once I have made you into the masters of the world through knowledge and the power of yoga, I go and sit beyond sound. No one knows Me there. No one can know Me, the Creator, or My creation. They neither know the Father nor the beginning, the middle or the end of the world. This knowledge does not remain there. If Radhe and Krishna were to know that they later had to become 14 celestial degrees, the happiness of the kingdom and the crown would disappear. This knowledge does not exist there. The Father explains everything very clearly. You are renunciates and they too are renunciates. However, their renunciation is through hatha yoga. Those sannyasis renounce their limited homes and families. There, there is Shankaracharya, whereas it is Shivacharya here. Shiv Baba is the Ocean of Knowledge. He is called the Teacher. Krishna is not a teacher. God Shiva, the Teacher, sits here and explains to you children. He teaches you Raja Yoga. Those are hatha yogis; they cannot teach Raja Yoga. Only the unlimited Father can teach Raja Yoga for attainment of the kingdom of the golden age. You have now come to the Father. Those people adopt renunciation for birth after birth, whereas you do not have to renounce anything for 21 births. You understand that this is the old world and that you are now kicking it away. Shiv Baba has explained two types of pilgrimage: One is the spiritual pilgrimage and the other is the physical pilgrimage. The SupremeFather says: I take you on a pilgrimage and you will not return to the land of death. The Father is the Supreme Guide. His children are also guides. You are spiritual guides who enable souls to go on this spiritual pilgrimage. These are things to imbibe. You children imbibe these well and explain them to others. There are some who do not have accurate yoga. Although they imbibe knowledge very well, their yoga is not constant. Maya doesn’t interfere in knowledge, she only interferes in yoga. It is the same as when a speech is being given on the radio during wartime and they jam the transmission to stop it being heard. Similarly, where there is a disturbance, Maya interferes in yoga. The name ‘yoga’ is very famous in Bharat. Who taught this ancient yoga? They have said that it was God Krishna who taught it. Krishna only exists in the golden age. Then his name, form, place and time period continue to change. Now, in his final birth, the Father enters him and makes him that again. You know that Brahmins become deities, who then become warriors, merchants and shudras. The Father sits here and explains: Whatever knowledge I am giving you will disappear. I give it to you through this one. So, the foremost river is Brahma. A mela (gathering) takes place at the confluence of the Brahmaputra River and the ocean. This Brahmaputra is a big river who imbibes knowledge and enables others to imbibe it. It is true that God has changed His form and come. He changes His incorporeal form and comes into the corporeal. The Brahmin clan is the highest of all. The Father gives knowledge to Brahmins through the lotus lips of Brahma and creates the deity and warrior religions. There are no other religions in the golden and silver ages. They are being established now. Radhe and Krishna become Lakshmi and Narayan. Those who have studied will definitely come into the golden age, because the imperishable knowledge can never be destroyed. Many subjects are created. Some leave and go on a tour and then return. Where else would they go? There is only the one Flame for the many moths and so they will keep returning to the Flame. Those who have run away will also return. Although they defame the Satguru, they still come back to Baba. It is then explained to them that they can take up this knowledge again. They feel that it is definitely their mistake. Therefore, they also have to take refuge and they too have to be served. Continue to have full mercy until the end. No matter how many obstacles they create, they are still told: By all means come and try again. You are not forbidden to come. Baba is full of mercy anyway and you are His children, are you not? They say that Maya made them wander around. However, they are still served. If they seek refuge, they have to be uplifted. Remove their defects and make them virtuous. The Father can never become an enemy. The unlimited Father would say: Children, remain happy! He feels mercy for them. Where else would they go? There is no other place where they can claim their inheritance from the Father. The Father explains everything. If you cannot imbibe very much, then even a little will do. Achcha, manmanabhav! Stay in remembrance of the Father! Peace is the original religion of souls. Attention please! Remain cautious! Remember your Father! By remembering the Father, you will definitely remember the inheritance; it is impossible for you not to remember the inheritance. By remembering the Father and the inheritance you become liberated in life. It is such an easy thing! The name given is ‘Easy Raja Yoga’. People become confused when yoga is mentioned. This means to remember the Father. Baba says: O children, you forget the Father! You forget the Father who gives you a birth as valuable as a diamond! Do you ever forget your worldly father? If you forget Baba, you lose your inheritance. Have the faith that you are a soul and remember the Father. You are deceived when you become body conscious from soul conscious. The path of sannyasis is the path of isolation. When Bharat starts to become impure, they come and help it by slowing down the progress of impurity. They have the power of purity. Where there is purity, there is also peace and prosperity. A kumari is pure, this is why people bow to her. They all bow their heads in front of the deities (idols) because they were pure. There is no question of bowing one’s head in the golden age because everyone there is pure. Look at yourself in the mirror to see that you don’t have any evil spirit in you. Have you become worthy of marrying Lakshmi or Narayan? You have to make yourself worthy. You children understand that Shiv Baba is the Highest on High. Shiv Baba is higher than everyone, including Brahma, Vishnu, Shankar and Lakshmi and Narayan etc. Only one Shiv Baba is like a diamond. All the rest are tamopradhan and worth shells. All praise belongs to the one Father alone. It is the Father’s task alone to make the whole world into heaven. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Sacrifice yourself fully to the Father and become a real child of the Father and claim your full inheritance from Him. Become completely pure.
  2. Look at yourself in the mirror and remove any evil spirits and become virtuous. Listen to the Father’s murli and imbibe it and enable others to imbibe it.
Blessing: May you be a victorious jewel who remain unshakeable in the midst of upheaval by having faith in the intellect.
Faith and victory are firm companions of each other. Where there is faith, victory is definitely guaranteed because you have the faith that the Father is the Almighty Authority and that you are a master almighty authority. So, where else would victory go? Those who have such faith in the intellect can never be defeated. When the foundation of faith is strong, no storms can shake you. To remain unshakeable in the midst of upheaval is known as being a victorious jewel by having faith in the intellect. However, do not have faith in just the Father, but let there be faith in yourself and also in the drama.
Slogan: A flying bird is one who remains free from all bodily relations and continues to make effort to become an angel.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 28 MAY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 May 2018

To Read Murli 27 May 2018 :- Click Here
28-05-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप की मदद या पूरा वर्सा लेने के लिए सगे बच्चे बनो, सगे अर्थात् पूरा सन्यास कर पवित्रता की प्रतिज्ञा करने वाले”
प्रश्नः- बाप फुल रहमदिल है – कैसे? कौन-सा रहम बच्चों पर सदा ही करते हैं?
उत्तर:- कोई बच्चा कितना भी विघ्न डालता, माया के वश हो उल्टा कर्म कर लेता, लेकिन फिर भी अगर कोई भूल महसूस करता है तो बाप उसे शरण ले कहते हैं – अच्छा, फिर से ट्रायल करो। अवगुणों को निकाल गुणवान बनो। बाप फुल रहमदिल है, क्योंकि जानते हैं बच्चे और कहाँ जायेंगे। सदा सुखी रहें – यही बाप की आश रहती है।
गीत:- तुम्हारे बुलाने को जी चाहता है…. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चे, तुम्हें गोप-गोपियाँ भी कहा जाता है। सतयुग में गोप-गोपियाँ नहीं होते हैं। वहाँ तो राजधानी चलती है। गोप-गोपियाँ संगमयुग पर हैं जबकि गोपी वल्लभ भी आते हैं। वल्लभ बाप को कहा जाता है। बच्चे याद करते हैं कि बाबा फिर से आओ। सभी सेन्टर्स के बच्चे होंगे। सबको पता है कि बाबा इस समय मुरली बजाता होगा। वह मुरली टेप में भरती होगी, लिखते भी होंगे। लिथो होगी फिर हमारे पास आयेगी। हम धारणा करेंगे फिर हम धारणा करायेंगे। यह सब समझते होंगे कि मधुबन में तो गोप-गोपियाँ गोपी वल्लभ से सम्मुख सुनते होंगे। वो ही मुरली फिर हम 4-5 दिन के बाद सुनेंगे। ऐसे ख्यालात चलते होंगे ना। कहते हैं – बाबा, आप आओ तो हम सदैव मुस्कराने लग जावें। जैसे देवतायें सदैव हर्षित रहते हैं। वहाँ यथा राजा रानी तथा प्रजा सब हर्षित रहते हैं। दु:ख का नाम-निशान नहीं रहता। यहाँ तो है ही प्रजा का राज्य। तो बच्चे जानते हैं बाबा आकर हमको पढ़ाते हैं। यहाँ गरीब ही अच्छी रीति पढ़ते हैं। जैसे वे गरीब भी कोई एम.एल.ए., कोई एम.पी. बन जाते हैं ना। यहाँ गरीब ही पढ़ सकते हैं। वारिस भी गरीब ही बनते हैं। साहूकारों को लफड़ा बहुत रहता है। एक तो धन का नशा, दूसरा फिर फुर्सत नहीं मिलती। बलि भी नहीं चढ़ सकते। यहाँ बलि चढ़ना पड़ता है तन-मन-धन सहित। साहूकारों का हृदय विदीरण होता है। फुरना बहुत रहता है इसलिए गरीब झट बलि चढ़ते हैं। इसमें भी पहले नम्बर में कन्यायें जाती हैं। मम्मा भी कन्या है ना। बाप की बनी और कहेंगे – बस, मेरा तो शिवबाबा दूसरा न कोई। इसको बलि चढ़ना कहा जाता है। गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए जैसे कि वहाँ नहीं हैं। बुद्धि में शान्तिधाम, सुखधाम ही बसता है। अब हम जाते हैं स्वीट होम, फिर स्वीट राजाई में। गृहस्थ व्यवहार में रहते रचना की भी पालना करनी है, परन्तु श्रीमत से। श्रीमत तब मिले जब बलि चढ़े। सर्वशक्तिमान के साथ योग लगाने से ही शक्ति मिलती है। बाप का नहीं बनते हैं तो शक्ति नहीं मिलेगी। सगे और लगे होते हैं। उन सन्यासियों में भी सगे और लगे होते हैं। कोई तो घरबार छोड़ जाकर कफनी पहनते हैं। वह ठहरे सगे। कोई फिर फालोअर्स होते हैं। वह रहते हैं गृहस्थ में। उनको कहते हैं सौतेले। सगे नहीं कहेंगे। उन्हें फिर वर्सा मिल न सके क्योंकि अपवित्र रहते हैं। यहाँ भी कोई तो सगे हैं जो पवित्रता की राखी बाँधते हैं। बाकी जो पवित्र नहीं रहते हैं उनको सगे कह न सकें। यह है राजयोग द्वारा सन्यास। वह है हठयोग द्वारा सन्यास। बाबा ने समझाया है – कैसे अपने को सन्यासियों के फालोअर्स कहलाते हैं। परन्तु रहते हैं घर गृहस्थ में। तो उनको वास्तव में फालोअर्स वा सन्यासी कह न सकें। सन्यास करने का पुरुषार्थ करने चाहते हैं परन्तु बन्धन है। जिन्होंने कल्प पहले सन्यास किया है वही छोड़ते हैं। वह हो जाते हैं सगे और वह लगे। यहाँ जो भी बाप के बनते हैं वही सगे ठहरे। मदद और वर्सा भी सगे को ही मिलेगा। लगे को मदद मिल न सके।

बाबा ने समझाया है – यह है ज्ञान इन्द्र सभा। यहाँ सब ज्ञान पुखराज परी… हैं। नौ रत्नों की भी बहुत महिमा है। नौ रत्न की अंगूठी भी पहनते हैं। ब्राह्मण लोग कहते हैं यह पहनों तो तुम्हारी दशा बदलेगी। पत्थरों की भी महिमा कर दी है। वे ही तो तुम बच्चे हो। जितने जो सर्विसएबुल बच्चे हैं वे विजय माला में आते हैं। ऊंच ते ऊंच है हीरा बनाने वाला बाबा। उनको बीच में रखते हैं। मनुष्य तो इन बातों को जानते ही नहीं। नौ रत्न कौन हैं? पत्थर से भेंट क्यों करते हैं? जैसे नदियों से भी भेंट करते हैं, तुम हो ज्ञान नदियाँ। वह है पानी की। तो कहते हैं – बाबा आओ तो हम सदैव हर्षित रहेंगे। आपकी मुरली सुनकर औरों को सुनायेंगे। फिर हाँ, प्रिन्स-प्रिन्सेज बन रत्न जड़ित मुरली भी बजाते हैं। मुरली बजाने का शौक रहता है। कृष्ण को भी मुरली थी जरूर। जबकि वह प्रिन्स था, रास करता था। बाकी ज्ञान मुरली सुनाना या बजाना तो ज्ञान सागर का ही काम है। वह ज्ञान मुरली बाप आकर चलाते हैं। ज्ञान की बात यहाँ ही होती है। वहाँ ज्ञान की बात नहीं होती है। अब मुरली बजाने वाली तुम बच्चियाँ हो। सतयुग में त्रिकालदर्शीपने का ज्ञान नहीं होता। वहाँ यह नॉलेज प्राय:लोप हो जाती है। परम्परा नहीं चल सकती। पीछे तो होती है प्रालब्ध। ज्ञान एक ही बार मिलता है। अभी तुम 21 जन्मों के लिए प्रालब्ध पा रहे हो। प्रालब्ध मिलेगी फिर तो बाबा भी परमधाम में जाकर बैठ जाते हैं। तुमको ज्ञान-योगबल से विश्व का मालिक बनाकर हम वाणी से परे हो बैठ जाते हैं। फिर वहाँ मेरे को कोई नहीं जानते। मुझ रचयिता और मेरी रचना को कोई जान नहीं सकते। न बाप को जानते, न सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। वहाँ यह ज्ञान नहीं रहता है। राधे-कृष्ण को वहाँ यह पता हो कि फिर 14 कला बनना है तो राज्य, ताज की खुशी ही गुम हो जाये। यह ज्ञान वहाँ रहता ही नहीं। बाप हर बात क्लीयर समझाते हैं। तुम भी सन्यासी हो, वे भी सन्यासी हैं। वो है हठयोग का सन्यास। सन्यासी हद का घर बार छोड़ जाते हैं। वहाँ है शंकराचार्य और यह है शिवाचार्य। शिवबाबा ज्ञान का सागर है ना। उनको आचार्य कहा जाता है। कृष्ण आचार्य नहीं। भगवान शिवाचार्य बैठ तुम बच्चों को समझाते हैं। राजयोग सिखलाते हैं। वह हठयोगी हैं। वह राजयोग सिखला न सके। यह बेहद का बाप ही सतयुग का राज्य प्राप्त कराने राजयोग सिखलाते हैं। तुम अब बाप के पास आये हो। वे जन्म बाई जन्म सन्यास लेते हैं। तुम 21 जन्म फिर सन्यास नहीं लेते हो। तुम जानते हो यह पुरानी दुनिया है, हम इसको ठोकर मारते हैं।

शिवबाबा ने दो प्रकार की यात्रा समझाई है – एक रूहानी यात्रा, दूसरी जिस्मानी। सुप्रीम बाप कहते हैं मैं तुमको यात्रा पर ले जाता हूँ। फिर तुम मृत्युलोक में नहीं आयेंगे। बाप है सुप्रीम पण्डा। उनके बच्चे भी पण्डे ठहरे। तुम हो रूहानी पण्डे, रूहानी यात्रा कराने वाले। यह धारण करने की बातें हैं। बच्चे अच्छी रीति धारणा कर समझाते हैं। कोई फिर ऐसे भी हैं जिनका योग पूरा नहीं रहता है। भल ज्ञान की धारणा अच्छी रहती है। योग नहीं ठहरता है। ज्ञान में माया इन्टरफियर नहीं करती है। योग में माया इन्टरफियर करती है। जैसे रेडियो में स्पीच करते हैं तो लड़ाई जब लगती है तो एक दो का आवाज सुनने नहीं देते हैं। खिट-खिट करते हैं तो योग में माया भी इन्टरफियर करती है। भारत में योग का नाम मशहूर है। प्राचीन योग किसने सिखाया? उन्होंने कृष्ण भगवानुवाच कह दिया है। कृष्ण तो है सतयुग में फिर उनका नाम, रूप, देश, काल बदलते-बदलते यह है अन्तिम जन्म। फिर उसमें बाप प्रवेश कर उनको यह बना रहे हैं। तुम जानते हो ब्राह्मण सो देवता बने, फिर क्षत्रिय सो वैश्य सो शूद्र बनें। बाप बैठ समझाते हैं मैं जो भी तुमको नॉलेज देता हूँ वह प्राय:लोप हो जाती है। इस द्वारा सुनाता हूँ। तो पहला नम्बर नदी ब्रह्मा। मेला लगता है ना – ब्रह्मपुत्रा और सागर पर। यह ब्रह्मपुत्रा है बड़ी नदी। जो धारणा करके कराते हैं। बरोबर भगवान रूप बदलकर आया है। जो निराकार रूप है वह बदल कर साकार में आते हैं। ब्राह्मणों का सबसे ऊंच कुल है। बाप ब्रह्मा मुख कमल द्वारा ब्राह्मणों को ज्ञान दे देवी-देवता धर्म और क्षत्रिय धर्म की स्थापना करते हैं। सतयुग-त्रेता में और कोई धर्म होता नहीं। अब स्थापना हो रही है। राधे-कृष्ण जो हैं वह लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। जिन्होंने भी पढ़ाई की है वह सतयुग में तो जरूर आयेंगे क्योंकि अविनाशी ज्ञान का विनाश नहीं होता है। प्रजा तो बहुत बनती है ना। कोई चले जाते हैं फिर चक्र लगाकर आ जाते हैं। जायेंगे कहाँ, शमा तो एक ही है। परवाने अनेक हैं। तो शमा पर आते रहेंगे। भागन्ती हो जाने वाले भी आयेंगे। सतगुरू की निन्दा कराई है फिर भी बाबा के पास आते हैं तो समझाया जाता है फिर से तुम यह ज्ञान उठा सकते हो। वह फील करते हैं बरोबर हमारी ही भूल है। तो उनको भी शरण लेना पड़ता है। फिर उनकी भी सेवा करेंगे। अन्त तक फुल रहम करना है। कितना भी विघ्न डालते हैं। फिर भी कहेंगे भल आओ, ट्रायल करो। मना नहीं है। बाप है ही फुल रहमदिल। तुम उनके बच्चे हो ना। कहते हैं माया ने भटकाया है। फिर भी उनकी सर्विस की जाती है। शरण में आते हैं तो फिर उठाना है। अवगुण को निकाल गुणवान बनाना चाहिए। बाप कभी दुश्मन नहीं बन सकता। बेहद का बाप कहेंगे कि बच्चे सुखी रहो। रहम आता है। कहाँ जायेंगे और तो कोई जगह है नहीं, जहाँ बाप से वर्सा ले सकें। बाप सब बातें समझाते हैं। बहुत नहीं धारणा कर सकते हैं तो फिर थोड़ा ही सही। अच्छा, मन्मनाभव। बाप की याद में रहो। आत्मा का स्वधर्म है शान्त। अटेन्शन प्लीज, सावधान – अपने बाप को याद करो। बाप को याद करने से वर्सा जरूर याद आयेगा। ऐसे हो नहीं सकता वर्सा याद न आये। बाप और वर्से को याद करने से तुम जीवनमुक्त बनते हो। कितनी सहज बात है। नाम ही रखा है – ‘सहज राजयोग।’ योग कहने से ही मूँझते हैं। यह तो बाप को याद करना है ना।

बाबा कहते हैं – अरे बच्चे, तुम बाप को भूल जाते हो! जिस बाप से हीरे जैसा जन्म मिला है, तुम उनको भूल जाते हो! लौकिक बाप को कब भूलते हो? बाबा को भूला तो वर्सा गुम। अपने को आत्मा निश्चय कर बाप को याद करना है। आत्म-अभिमानी बदले देह-अभिमानी बनने से धोखा खाते हैं। सन्यासियों का है निवृत्ति मार्ग। भारत पतित बनना शुरू हो जाता है तो यह आकर मरम्मत करते हैं। अपवित्र बनने से थामते (रोकते) हैं। उनमें प्योरिटी की ताकत रहती है। प्योरिटी है तो पीस प्रासपर्टी भी है। कन्या भी पवित्र है, तब तो उनको माथा टेकते हैं। देवतायें पवित्र हैं तो सब उनको माथा टेकते हैं। सतयुग में माथा टेकने की बात नहीं है क्योंकि सब पवित्र रहते हैं। अपने दर्पण में देखना चाहिए कि हमारे में कोई भूत तो नहीं है? लायक बने हैं लक्ष्मी-नारायण को वरने के? अपने को लायक बनाना है। तुम बच्चे जानते हो ऊंच ते ऊंच है शिवबाबा। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर और लक्ष्मी-नारायण आदि सबसे शिवबाबा ऊंच है। एक शिवबाबा ही हीरे जैसा है। बाकी इस समय सब तमोप्रधान कौड़ी जैसे हैं। महिमा सारी एक ही बाप की है। सारे सृष्टि को स्वर्ग बनाना – यह बाप का ही काम है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप पर पूरा बलि चढ़, बाप का सगा बच्चा बन बाप से पूरा वर्सा लेना है। पूरा पवित्र बनना है।

2) अपने को दर्पण में देख भूतों को निकाल गुणवान बनना है। बाप की मुरली सुन धारण कर औरों को करानी है।

वरदान:- निश्चयबुद्धि बन हलचल में भी अचल रहने वाले विजयी रत्न भव
निश्चय और विजय – यह एक दो के पक्के साथी हैं। जहाँ निश्चय है वहाँ विजय जरूर है ही, क्योंकि निश्चय है कि बाप सर्वशक्तिमान है और मैं मास्टर सर्वशक्तिमान हूँ तो विजय कहाँ जायेगी? ऐसे निश्चयबुद्धि की कभी हार हो नहीं सकती। निश्चय का फाउण्डेशन पक्का है तो कोई तूफान हिला नहीं सकता। हलचल में भी अचल रहना – इसको कहा जाता है निश्चय-बुद्धि विजयी रत्न। लेकिन सिर्फ बाप में निश्चय नहीं, स्वयं में और ड्रामा में भी निश्चय हो।
स्लोगन:- उड़ता पंछी वह है जो देह के सब रिश्तों से मुक्त रह फरिश्ता बनने का पुरुषार्थ करता है।
Font Resize