28 june ki murli

TODAY MURLI 28 JUNE 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 28 June 2020

28/06/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
18/02/86

Become constant servers and constant yogis.

Today, the Father, the Ocean of Knowledge, is seeing His Ganges of knowledge. He is seeing how and where the Ganges of knowledge, who have emerged from the Ocean of Knowledge, have been purifying others and are now celebrating a meeting of the Ganges with the Ocean. This is the meeting of the Ganges and the Ocean; all the Ganges have arrived from everywhere. BapDada is also pleased to see the Ganges of Knowledge. Each of you Ganges has the determined faith and intoxication that the impure world and impure souls have to be made pure. With this faith and intoxication, each one of you is continuing to move forward on the field of service. You have enthusiasm in your minds to complete the task of transformation as quickly as possible. All the Ganges of knowledge are world benefactors, bestowers of blessings, great donors and merciful souls, like the Father, the Ocean of Knowledge. This is why, hearing the sound of sorrow and peacelessness of souls, your enthusiasm to serve those souls at a fast speed, to transform their sorrow and peacelessness, increases. Hearing the calls from the hearts of the unhappy souls, you feel mercy, do you not? You have the loving feeling that they should all become happy. You have become instruments to give the world rays of happiness, rays of peace and rays of power. Today, Baba is seeing to what extent the service of the Ganges of Knowledge has become instrumental from the beginning until now to bring about transformation. Even now, you have to serve many souls in a short time. In 50 years, a very good foundation of service has been laid in this land and abroad. Service places have been established in all directions. You have adopted many different forms to spread the sound. That is also very good. The gathering of children who had been scattered across this land and abroad has been formed and that will continue. What else are you going to do? You now know the method, you have already collected many facilities and are continuing to collect many types of facilities. Each of you is also paying attention to your own stage and to self-progress and also drawing the attention of others to that. What more remains? In the beginning, all the original jewels surrendered their bodies, minds, wealth, time, relationships, day and night to the Father with zeal and enthusiasm. As a result of the zeal and enthusiasm of their surrendering, you saw the practical form of a powerful stage in service. At both times, you saw these specialities: at the beginning of establishment and at the beginning of service. In the beginning, when Brahma Baba walked and moved around, did you see him in an ordinary form or in the form of Krishna? You experienced, did you not, that whilst seeing him in an ordinary form, you didnt see him as ordinary? Did you think that he was Dada? Whilst he was walking and moving around, you experienced him as Krishna. You experienced that, did you not? In the beginning, you saw and experienced this speciality in Father Brahma. Wherever any of you went at the beginning of service, everyone experienced you as goddesses. You heard everyone say that the goddesses have come. It used to emerge from everyones lips: These are unique beings. You experienced this, did you not? Their feelings of you being goddesses attracted them all and became instrumental for the growth of service. So, in the beginning, there was the speciality of being unique. In the beginning of service too, there was the speciality of being unique and divine. Now, at the end, they will experience that same splendour and sparkle in a visible way. Only then will the drums of revelation beat. Now, in the time that remains, they will experience you to be constant yogis, constant servers, constant embodiments of those who grant visions, and constantly being exactly like the Father. You will attain success with this method. You celebrated the Golden Jubilee, that is, you reached the practical form for the golden world. Just as in the scenes of celebrating the Golden Jubilee, people experienced the forms of goddesses in a practical way – those who were sitting there (as goddesses) and those who were observing them – so now, whilst walking and moving around, continue to give souls this experience in service. This is celebrating the Golden Jubilee. Did all of you celebrate and see the Golden Jubilee? What would you say? It is also the Golden Jubilee of all of you, is it not? Or, is it the Silver Jubilee for some and the Copper Jubilee for others? It is the Golden Jubilee for everyone. To celebrate the Golden Jubilee means to be one with a constantly golden stage. Now, whilst walking and moving around, experience being an angel and then a deity. Through this powerful awareness of yours, others will also only see your angelic and deity forms. You celebrated the Golden Jubilee, that is, you surrendered your time and thoughts for service. Now celebrate this surrender ceremony. Do not use your time or thoughts in your own trivial matters, such as for your body, mind, facilities and in fulfilling relationships. To use them for service means automatically to receive the gift of self-progress. Now transform the time that you have been using for yourself. Devotees try to chant the name of God in every breath. Similarly, have deep love for service in every breath. Become totally absorbed in service. Be bestowers of fortune and bestowers of blessings. Become constant great donors, not servers for just four or six hours. You are now on the stage for becoming world benefactors. Surrender every moment for world benefit. Benefit of the self is automatically merged in world benefit. When you remain busy in service at every second with your thoughts, when you dont have time for anything else, Maya too will not have time to come to you. Problems will be transformed into solutions; they will not have the courage to come in front of you elevated souls who are embodiments of solutions. In the beginning of service, you saw how, because you were in your divine and powerful forms, those who came to you with impure vision were transformed and became students who wanted to become pure. Just as the impure ones who came in front of you were transformed, so too, problems that come in front of you have to be transformed into forms of solutions. Do not take time now to transform your sanskars. With your elevated feelings for world benefit, let your sanskars of elevated wishes emerge. Do not waste your time transforming your sanskars. In front of your elevated sanskars, limited sanskars will automatically end. Do not waste your time battling. Let the sanskars of being victorious emerge. Enemies will automatically be burnt in front of your victorious sanskars. This is why you are told to surrender your bodies, minds and wealth through constantly serving. Whether you serve through your thoughts, words or deeds, do not get caught up in any situation other than service. Make a donation, give a blessing and any eclipse on the self will automatically finish. Start an imperishable langar (continuous feeding of others), because there is very little time and you have to serve souls, the atmosphere, the elements and evil spirits. You have to show the destination to those wandering souls too. You will send them to the land of liberation, will you not? You will give them a home, will you not? So, how much service do you now have to do? How many souls are there? You have to give every soul liberation and liberation-in-life. Use everything for service and you will be able to eat a lot of nourishing fruit. Do not eat the fruit of labouring. The fruit of service is such that it liberates you from labouring.

BapDada saw in the result that the majority give a lot of time to themselves in their efforts to transform their sanskars. Whether they have been here for 50 years or just a month, from the beginning until now, the sanskar that has to be transformed from its original form is the same one. That original sanskar comes as a problem in many different ways. For instance, someone has the sanskar of arrogance of the intellect, someone has the sanskar of dislike, someone has the sanskar of getting disheartened. It is the same sanskar but it has continued to emerge at different times, from the beginning until now. Whether it hastaken you 50 years or just a year, it is this main sanskar that comes from time to time as a problem in many different forms, so that you have spent a lot of time and energy on it. Now, let the powerful sanskars of a bestower, a bestower of fortune and a bestower of blessings emerge. These great sanskars will then automatically finish weak sanskars. Dont spend any more time killing those sanskars. With the fruit of service, from the power of that fruit, they will automatically die. For instance, you have experienced that when you remain busy in service with a good stage, through the happiness of service, those problems are automatically suppressed for that time, because you dont even have time to think about problems. If you remain busy in service at every second and in every thought, the langar (continuous queue of) of problems will end and you will be able to step away. When you become an instrument to give support and show others the path and give them the Fathers treasures, then weaknesses will automatically be kept aside. Do you understand what you now have to do? You must now think of the unlimited and of the unlimited task. Whether you donate through your vision, your attitude, your words, your company or your vibrations, you definitely have to donate. In any case, in devotion, they have the discipline that if they lack something, they are told to donate that particular thing. By donating it, that giving becomes a form of receiving. Do you understand what the Golden Jubilee is? Do not think that you have just celebrated it. You have completed 50 years of service, so now take a new direction. Whether you are young or old, someone of 50 years or just a day, all of you have to become embodiments of solutions. Do you understand what you have to do? In any case, life is transformed after 50 years. The Golden Jubilee means the jubilee of transformation, the jubilee to become complete. Achcha.

To the world benefactors who remain constantly powerful, to those who remain constantly stable in the stage of a bestower of blessings and a great donor, to those who always easily end all your own problems by becoming an embodiment of solutions for others, to those who surrender every moment and every thought for service, to such real golden special souls, to the elevated souls who are equal to the Father, BapDadas love, remembrance and namaste.

BapDada meeting the original jewels of the Golden Jubilee:

Do you have the special happiness that, from the beginning, you souls have both the special parts of staying with the Father and of being His companions? You stay with Him, and whilst you are alive, you have to live as His companions, being equal to Him. So, you have received the special blessing of staying with Him and of being His companion from the beginning until the end. You took birth through love. You didnt have knowledge previously. You were born through love. You are the special instruments to give others the love through which you were born. Let whoever comes in front of you have a special experience of the Fathers love through all of you. Let them see the Fathers image in you and see the Fathers divine activities through your activities. If anyone asks you what the Fathers divine activities were, let your activities show those divine activities because you yourselves are souls who have seen the Fathers divine activities and have followed Him in those divine activities. Whatever divine activities have taken place, they are not the divine activities of the Father alone. They are the divine activities of Gopi Vallabh and the gopikas. The Father performed every act with the children, not by Himself. He always kept the children in front of Him. So, to keep you in front was His divine activity. Let such divine activities be visible through you special souls. The Father never had the thought, I should remain in front. He was always a renunciate in this too, and he always kept others in front. Therefore, he himself received the first fruit as the fruit of this renunciation. Father Brahma became number one in every aspect. Why did he become that? He became that through the feeling of renunciation and by keeping others in front of himself and so he thereby came to the front himself. To renounce relationships or physical comforts is not a great thing. However, in every task, and even in his thoughts, he had the feeling of keeping others in front of him. This renunciation was elevated renunciation. This is known as finishing the awareness of the self, finishing the consciousness of I. So, those who have received direct sustenance have special powers. The power of direct sustenance is no small thing. Now continue to reveal that sustenance in sustaining others. In any case, you are special. You are special in many things. To play a part with the Father from the beginning is no small speciality. There are many specialities, but you special souls now also have to make a special donation. Everyone gives the donation of knowledge, but you have to donate your specialities. The Fathers specialities are your specialities. So, donate those specialities. Those who are great donors of specialities remain constantly great. Whether in being worthy of worship or in being a worshipper, they remain great throughout the whole cycle. You saw how Father Brahma, even at the end, in terms of the iron age, still remained great, did you not? So, from the beginning until the end, such a great donor remains great. Achcha. Everyone was happy to see all of you and so you distributed happiness, did you not? You celebrated very well. You pleased everyone and you also remained happy. BapDada is pleased to see the special souls performing a special task. The rosary of love is ready, is it not? The rosary of effort and the rosary of becoming complete is revealed from time to time.

To the extent that someone is experienced as a perfect angel, it can be understood that that bead is to be threaded in the rosary. So, they are being revealed from time to time. However, the rosary of love is strong, is it not? The pearls of the rosary of love are always immortal and imperishable. All of you are those who will claim pass marks in the subject of love. However, the rosary of those who are embodiments of solutions now has to become ready. To be complete means to be an embodiment of solutions. You saw how anyone who went to Father Brahma with a problem would forget that problem. What did they go to Brahma Baba with and what did they go away with? You experienced that, did you not? They would not have the courage to speak of their problems, because in front of the perfect stage, they would experience their problems to be childish games. This is why the problems would finish. This is called being an embodiment of solutions. If each one of you becomes an embodiment of solutions, where will the problems go? The farewell ceremony would then be celebrated for half the cycle. Now, the solution to the problems of the world is in the transformation that has to take place. So, did you celebrate the Golden Jubilee? You celebrated the jubilee to mould yourself. Those who mould themselves can adopt any form they want. To mould yourself means to be loved by everyone. Nevertheless, everyones vision stays on those who are instruments. Achcha.

Blessing: May you be a special actor who with your greatness and closeness to BapDada create an elevated reward for the cycle.
In this life of dying alive, the bases of greatness are two things: 1) To be constantly uplifting others. 2) To remain pure from birth. The children who have been constant in this from the beginning to the end, whose purity has not lapsed (been broken) in any way, and who have always been benevolent to the world and the Brahmin family, such special actors always remain close to BapDada. So, their elevated reward is created for the whole cycle.
Slogan: When your thoughts are wasteful, all other treasures also go to waste.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 28 JUNE 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 June 2020

Murli Pdf for Print : – 

28-06-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 18-02-86 मधुबन

निरन्तर सेवाधारी तथा निरन्तर योगी बनो

आज ज्ञान सागर बाप अपनी ज्ञान गंगाओं को देख रहे हैं। ज्ञान सागर से निकली हुई ज्ञान गंगायें कैसे और कहाँ-कहाँ से पावन करते हुए इस समय सागर और गंगा का मिलन मना रहीं हैं। यह गंगा सागर का मेला है, जिस मेले में चारों ओर की गंगायें पहुंच गई। बापदादा भी ज्ञान गंगाओं को देख हर्षित होते हैं। हर एक गंगा के अन्दर यह दृढ़ निश्चय और नशा है कि पतित दुनिया को, पतित आत्माओं को पावन बनाना ही है। इसी निश्चय और नशे से हर एक सेवा के क्षेत्र में आगे बढ़ते जा रहे हैं। मन में यही उमंग है कि जल्दी से जल्दी परिवर्तन का कार्य सम्पन्न हो। सभी ज्ञान गंगायें ज्ञान सागर बाप समान विश्व-कल्याणी, वरदानी और महादानी रहमदिल आत्मायें हैं इसलिए आत्माओं की दु:ख, अशान्ति की आवाज अनुभव कर आत्माओं के दु:ख अशान्ति को परिवर्तन करने की सेवा तीव्रगति से करने का उमंग बढ़ता रहता है। दु:खी आत्माओं के दिल की पुकार सुनकर रहम आता है ना। स्नेह उठता है कि सभी सुखी बन जाएं। सुख की किरणें, शान्ति की किरणें, शक्ति की किरणें विश्व को देने के निमित्त बने हुए हो। आज आदि से अब तक ज्ञान गंगाओं की सेवा कहां तक परिवर्तन करने के निमित्त बनी है, यह देख रहे थे। अभी भी थोड़े समय में अनेक आत्माओं की सेवा करनी है। 50 वर्षों के अन्दर देश-विदेश में सेवा का फाउन्डेशन तो अच्छा डाला है। सेवास्थान चारों ओर स्थापन किये हैं। आवाज फैलाने के साधन भिन्न-भिन्न रूप से अपनाये हैं। यह भी ठीक ही किया है। देश-विदेश में बिखरे हुए बच्चों का संगठन भी बना है और बनता रहेगा। अभी और क्या करना है? क्योंकि अभी विधि भी जान गये हो। साधन भी अनेक प्रकार के इकट्ठे करते जा रहे हो और किये भी हैं। स्व-स्थिति, स्व-उन्नति उसके प्रति भी अटेन्शन दे रहे हैं और दिला रहे हैं। अब बाकी क्या रहा है? जैसे आदि में सभी आदि रत्नों ने उमंग-उत्साह से तन-मन-धन, समय-सम्बन्ध, दिन-रात बाप के हवाले अर्थात् बाप के आगे समर्पण किया, जिस समर्पण के उमंग-उत्साह के फलस्वरूप सेवा में शक्तिशाली स्थिति का प्रत्यक्ष रूप देखा। जब सेवा का आरम्भ किया तो सेवा के आरम्भ में और स्थापना के आरम्भ में, दोनों समय यह विशेषता देखी। आदि में ब्रह्मा बाप को चलते-फिरते साधारण देखते थे वा कृष्ण रूप में देखते थे? साधारण रूप में देखते भी नहीं दिखाई देता था, यह अनुभव है ना! दादा है यह सोचते थे? चलते-फिरते कृष्ण ही अनुभव करते थे। ऐसे किया ना? आदि में ब्रह्मा बाप में यह विशेषता देखी, अनुभव की और सेवा की आदि में जब भी जहाँ भी गये, सबने देवियां ही अनुभव किया। देवियां आई हैं, यही सबके बोल सुनते, यही सभी के मुख से निकलता कि यह अलौकिक व्यक्तियां हैं। ऐसे ही अनुभव किया ना? यह देवियों की भावना सभी को आकर्षित कर सेवा की वृद्धि के निमित्त बनी। तो आदि में भी न्यारे-पन की विशेषता रही। सेवा की आदि में भी न्यारेपन की, देवी पन की विशेषता रही। अभी अन्त में वही झलक और फलक प्रत्यक्ष रूप में अनुभव करेंगे, तब प्रत्यक्षता के नगाड़े बजेंगे। अभी रहा हुआ थोड़ा-सा समय निरन्तर योगी, निरन्तर सेवाधारी, निरन्तर साक्षात्कार स्वरूप, निरन्तर योगी, निरन्तर साक्षात् बाप – इस विधि से सिद्धि प्राप्त करेंगे। गोल्डन जुबली मनाई अर्थात् गोल्डन दुनिया के साक्षात्कार स्वरूप तक पहुंचे। जैसे गोल्डन जुबली मनाने के दृश्य में साक्षात देवियां अनुभव किया, बैठने वालों ने भी, देखने वालों ने भी। चलते-फिरते अब यही अनुभव सेवा में कराते रहना। यह है गोल्डन जुबली मनाना। सभी ने गोल्डन जुबली मनाई या देखी? क्या कहेंगे? आप सबकी भी गोल्डन जुबली हुई ना। या कोई की सिल्वर हुई, कोई की तांबे की हुई? सभी की गोल्डन जुबली हुई। गोल्डन जुबली मनाना अर्थात् निरन्तर गोल्डन स्थिति वाला बनना। अभी चलते फिरते इसी अनुभव में चलो कि मैं फरिश्ता सो देवता हूँ। दूसरों को भी आपके इस समर्थ स्मृति से आपका फरिश्ता रूप वा देवी-देवता रूप ही दिखाई देगा। गोल्डन जुबली मनाई अर्थात् अभी समय को, संकल्प को, सेवा में अर्पण करो। अभी यह समर्पण समारोह मनाओ। स्व की छोटी-छोटी बातों के पीछे, तन के पीछे, मन के पीछे, साधनों के पीछे, सम्बन्ध निभाने के पीछे समय और संकल्प नहीं लगाओ। सेवा में लगाना अर्थात् स्व उन्नति की गिफ्ट स्वत: ही प्राप्त होना। अभी अपने प्रति समय लगाने का समय परिवर्तन करो। श्वांस जैसे भक्त लोग श्वांस-श्वांस में नाम जपने का प्रयत्न करते हैं। ऐसे श्वांस-श्वांस सेवा की लगन हो। सेवा में मगन हो। विधाता बनो वरदाता बनो। निरन्तर महादानी बनो। 4 घण्टे के 6 घण्टे के सेवाधारी नहीं अभी विश्व कल्याणकारी स्टेज पर हो। हर घड़ी विश्व कल्याण प्रति समर्पित करो। विश्व कल्याण में स्व कल्याण स्वत: ही समाया हुआ है। जब संकल्प और सेकेण्ड सेवा मे बिजी रहेंगे, फुर्सत नहीं होगी, माया को भी आपके पास आने की फुर्सत नहीं होगी। समस्यायें समाधान के रूप में परिवर्तन हो जायेंगी। समाधान स्वरूप श्रेष्ठ आत्माओं के पास समस्या आने की हिम्मत नहीं रख सकती। जैसे शुरू में सेवा में देखा देवी रूप, शक्ति रूप के कारण आये हुए पतित दृष्टि वाले भी परिवर्तित हो पावन बनने के जिज्ञासु बन जाते। जैसे पतित परिवर्तन हो आपके सामने आये, ऐसे समस्या आपके सामने आते समाधान के रूप मे परिवर्तित हो जाए। अभी अपने संस्कार परिवर्तन में समय नहीं लगाओ। विश्व कल्याण की श्रेष्ठ भावना से श्रेष्ठ कामना के संस्कार इमर्ज करो। इस श्रेष्ठ संस्कार परिवर्तन में समय नहीं गंवाओ। इस श्रेष्ठ संस्कार के आगे हद के संस्कार स्वत: ही समाप्त हो जायेंगे। अब युद्ध में समय नहीं गँवाओ। विजयीपन के संस्कार इमर्ज करो। दुश्मन विजयी संस्कारों के आगे स्वत: ही भस्म हो जायेगा, इसीलिए कहा तन-मन-धन निरन्तर सेवा में समर्पित करो। चाहे मन्सा करो, चाहे वाचा करो, चाहे कर्मणा करो लेकिन सेवा के सिवाए और कोई समस्याओं में नहीं चलो। दान दो वरदान दो तो स्व का ग्रहण स्वत: ही समाप्त हो जायेगा। अविनाशी लंगर लगाओ क्योंकि समय कम है और सेवा आत्माओं की, वायुमण्डल की, प्रकृति की, भूत प्रेत आत्माओं की, सबकी करनी है। उन भटकती हुई आत्माओं को भी ठिकाना देना है। मुक्तिधाम में तो भेजेंगे ना! उन्हों को घर तो देंगे ना! तो अभी कितनी सेवा करनी है। कितनी संख्या है आत्माओं की! हर आत्मा को मुक्ति वा जीवनमुक्ति देनी ही है। सब कुछ सेवा में लगाओ तो श्रेष्ठ मेवा खूब खाओ। मेहनत का मेवा नहीं खाओ। सेवा का मेवा, मेहनत से छुड़ाने वाला है।

बापदादा ने रिजल्ट में देखा बहुत करके जो पुरूषार्थ में अपने प्रति संस्कार परिवर्तन के प्रति समय देते हैं। चाहे 50 वर्ष हो गये हैं, चाहे एक मास हुआ है लेकिन आदि से अब तक परिवर्तन करने का संस्कार मूल रूप में वही होता है, एक ही होता है। और वही मूल संस्कार भिन्न-भिन्न रूप में समस्या बनकर आता है। मानो दृष्टान्त के रूप में किसका बुद्धि के अभिमान का संस्कार है, किसी का घृणा भाव का संस्कार है, वा किसी का दिलशिकस्त होने का संस्कार है। संस्कार वही आदि से अब तक भिन्न-भिन्न समय पर इमर्ज होता रहता है। चाहे 50 वर्ष लगा है, चाहे एक वर्ष लगा है। इस कारण उस मूल संस्कार को जो समय प्रति समय भिन्न-भिन्न रूप में समस्या बन करके आता है, उसमें समय भी बहुत लगाया है, शक्ति भी बहुत लगाई है। अब शक्तिशाली संस्कार दाता, विधाता, वरदाता का इमर्ज करो। तो यह महासंस्कार कमजोर संस्कार को स्वत: समाप्त कर देगा। अभी संस्कार को मारने में समय नहीं लगाओ। लेकिन सेवा के फल से, फल की शक्ति से स्वत: ही मर जायेगा। जैसे अनुभव भी है कि अच्छी स्थिति से जब सेवा में बिजी रहते हो तो सेवा की खुशी से उस समय तक समस्यायें स्वत: ही दब जाती हैं क्योंकि समस्याओं को सोचने की फुर्सत ही नहीं। हर सेकेण्ड, हर संकल्प सेवा में बिजी रहेंगे तो समस्याओं का लंगर उठ जायेगा, किनारा हो जायेगा। आप औरों को रास्ता दिखाने के, बाप का खजाना देने के निमित्त सहारा बनो तो कमजोरियों का किनारा स्वत: ही हो जायेगा। समझा – अभी क्या करना है? अभी बेहद का सोचो, बेहद के कार्य को सोचो। चाहे दृष्टि से दो, चाहे वृत्ति से दो, चाहे वाणी से दो, चाहे संग से दो, चाहे वायब्रेशन से दो, लेकिन देना ही है। वैसे भी भक्ति में यह नियम होता है, कोई भी वस्तु की कमी होती है तो कहते हैं दान करो। दान करने से देना, लेना हो जाता है। समझा गोल्डन जुबली क्या है। सिर्फ मना लिया यह नहीं सोंचो। सेवा के 50 वर्ष पूरे हुए अभी नया मोड़ लो। छोटा-बड़ा एक दिन का वा 50 वर्ष का सब समाधान स्वरूप बनो। समझा क्या करना है। वैसे भी 50 वर्ष के बाद जीवन परिवर्तन होता है। गोल्डन जुबली अर्थात् परिवर्तन जुबली, सम्पन्न बनने की जुबली। अच्छा

सदा विश्व कल्याणकारी समर्थ रहने वाले, सदा वरदानी, महादानी स्थिति में स्थित रहने वाले, सदा स्व की समस्याओं को औरों प्रति समाधान स्वरूप बन सहज समाप्त करने वाले, हर समय हर संकल्प को सेवा में समर्पण करने वाले-ऐसे रीयल गोल्ड विशेष आत्माओं को, बाप समान श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का याद प्यार और नमस्ते।

गोल्डन जुबली के आदि रत्नों से बापदादा की मुलाकात

यह विशेष खुशी सदा रहती है कि आदि से हम आत्माओं का साथ रहने का और साथी बनने का दोनों ही विशेष पार्ट है। साथ भी रहे और फिर जहाँ तक जीना है वहाँ तक स्थिति में भी बाप समान साथी बन रहना है। तो साथ रहना और साथी बनना, यह विशेष वरदान आदि से अन्त तक मिला हुआ है। स्नेह से जन्म हुआ, ज्ञान तो पहले नहीं था ना। स्नेह से ही पैदा हुए, जिस स्नेह से जन्म हुआ, वही स्नेह सभी को देने के लिए विशेष निमित्त हो। जो भी सामने आये विशेष आप सबसे बाप के स्नेह का अनुभव करे। आप में बाप का चित्र और आपकी चलन से बाप का चरित्र दिखाई दे। अगर कोई पूछे कि बाप के चरित्र क्या हैं तो आपकी चलन चरित्र दिखाये क्योंकि स्वयं बाप के चरित्र देखने और साथ-साथ चरित्र में चलने वाली आत्मायें हो। चरित्र जो भी हुए वह अकेले बाप के चरित्र नहीं हैं। गोपी वल्लभ और गोपिकाओं के ही चरित्र हैं। बाप ने बच्चों के साथ ही हर कर्म किया, अकेला नहीं किया। सदा आगे बच्चों को रखा। तो आगे रखना यह चरित्र हुआ। ऐसे चरित्र आप विशेष आत्माओं द्वारा दिखाई दें। कभी भी “मैं आगे रहूँ” यह संकल्प बाप ने नहीं किया। इसमें भी सदा त्यागी रहे और इसी त्याग के फल में सभी को आगे रखा, इसलिए आगे का फल मिला। नम्बरवन हर बात में ब्रह्मा बाप ही बना। क्यों बना? आगे रखना आगे होना, इस त्याग भाव से। सम्बन्ध का त्याग, वैभवों का त्याग कोई बड़ी बात नहीं। लेकिन हर कार्य में, संकल्प में भी औरों को आगे रखने की भावना। यह त्याग श्रेष्ठ त्याग रहा। इसको कहा जाता है स्वयं के भान को मिटा देना। मै पन को मिटा देना। तो डायरेक्ट पालना लेने वालों मे विशेष शक्तियां हैं। डायरेक्ट पालना की शक्तियां कम नहीं हैं। वही पालना अभी औरों की पालना में प्रत्यक्ष करते चलो। वैसे विशेष तो हो ही। अनेक बातों में विशेष हो। आदि से बाप के साथ पार्ट बजाना, यह कोई कम विशेषता नहीं है। विशेषतायें तो बहुत हैं लेकिन अभी आप विशेष आत्माओं को दान भी विशेष करना है। ज्ञान दान तो सब करते हैं लेकिन आपको अपनी विशेषताओं का दान करना है। बाप की विशेषतायें सो आपकी विशेषतायें। तो उन विशेषताओं का दान करो। जो विशेषताओं के महादानी हैं, वह सदा के लिए महान रहते हैं। चाहे पूज्य पन में, चाहे पुजारी पन में, सारा कल्प महान रहते हैं। जैसे ब्रह्मा बाप को देखा अन्त में भी कलियुगी दुनिया के हिसाब में भी महान रहा ना। तो आदि से अन्त तक ऐसा महादानी महान रहता है। अच्छा – आपको देखकर सब खुश हुए, तो खुशी बांटी ना। बहुत अच्छा मनाया, सबको खुश किया और खुश हुए। बापदादा विशेष आत्माओं के विशेष कार्य पर हर्षित होते हैं। स्नेह की माला तो तैयार है ना। पुरूषार्थ की माला, सम्पूर्ण होने की माला वह तो समय प्रति समय प्रत्यक्ष हो रही है।

जितना जो फरिश्ता सम्पूर्ण अनुभव होता है वह समझो मणका माला में पिरोता जाता है। तो वह समय प्रति समय प्रत्यक्ष होते रहते हैं। लेकिन स्नेह की माला तो पक्की है ना। स्नेह की माला के मोती सदा ही अमर हैं, अविनाशी है। स्नेह में तो सभी पास मार्क्स लेने वाले हैं। बाकी समाधान स्वरूप की माला तैयार होनी है। सम्पूर्ण अर्थात् समाधान स्वरूप। जैसे ब्रह्मा बाप को देखा समस्या ले जाने वाला भी समस्या भूल जाता था। क्या लेकर आया और क्या ले करके गया! यह अनुभव किया ना! समस्या की बातें बोलने की हिम्मत नहीं रही क्योंकि सम्पूर्ण स्थिति के आगे समस्या जैसे कि बचपन का खेल अनुभव करते थे इसलिए समाप्त हो जाती थी। इसको कहते हैं समाधान स्वरूप। एक-एक समाधान स्वरूप हो जाए तो समस्यायें कहां जायेंगी। आधा कल्प के लिए विदाई समारोह हो जायेगा। अभी तो विश्व की समस्याओं का समाधान ही परिवर्तन है। तो क्या गोल्डन जुबली मनाई। मोल्ड होने की जुबली मनाई। जो मोल्ड होता है वह जिस भी रूप में लाने चाहो, उस रूप में आ सकता है। मोल्ड होना अर्थात् सर्व का प्यारा होना। सबकी नज़र फिर भी निमित्त बनने वालों पर रहती है। अच्छा!

वरदान:- श्रेष्ठता के आधार पर समीपता द्वारा कल्प की श्रेष्ठ प्रालब्ध बनाने वाले विशेष पार्टधारी भव
इस मरजीवा जीवन में श्रेष्ठता का आधार दो बातें हैं: 1-सदा परोपकारी रहना। 2-बाल ब्रह्मचारी रहना। जो बच्चे इन दोनों बातों में आदि से अन्त तक अखण्ड रहे हैं, किसी भी प्रकार की पवित्रता अर्थात् स्वच्छता बार-बार खण्डित नहीं हुई है तथा विश्व के प्रति और ब्राह्मण परिवार के प्रति जो सदा उपकारी हैं ऐसे विशेष पार्टधारी बापदादा के सदा समीप रहते हैं और उनकी प्रालब्ध सारे कल्प के लिए श्रेष्ठ बन जाती है।
स्लोगन:- संकल्प व्यर्थ हैं तो दूसरे सब खजाने भी व्यर्थ हो जाते हैं।

TODAY MURLI 28 JUNE 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 June 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 June 2019 :- Click Here

28/06/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are each other’s spiritual brothers. You should have a lot of love for one another. Become the Ganges who overflow with love. Never fight or quarrel.
Question: Which children does the spiritual Father love a great deal?
Answer: 1) He loves the children who benefit the world by following shrimat. 2) Those who have become flowers and never prick others with thorns. Those who live with others with a lot of love and never sulk are the children who are loved by the Father. Those who become body conscious and fight among themselves and become like salt water lose the Father’s honour. They become ones who defame the Father.

Om shanti. Just as the spiritual children love the spiritual Father, similarly, the spiritual Father loves you spiritual children because you benefit the whole world by following shrimat. Those who are benefactors are all loved by everyone. You are all brothers of one another. So, you would definitely be loved by one another. There would not be as much love among people outside as there is among you children of the Father. You should also have a lot of love for each other. If brothers fight among themselves here or do not have love for one another, they are not brothers. You should have love for one another. The Father has love for souls and souls should therefore also have love for one another. In the golden age, all souls love one another because body consciousness will have broken. You brothers benefit the whole world by having remembrance of the one Father. You are benefitting yourselves and you should also benefit your brothers. This is why the Father is making you soul conscious from body conscious. Physical brothers fight among themselves for their share of wealth. There is no question of fighting or quarrelling here. Each one of you has to keep a direct connection. This is an unlimited matter. You have to claim your inheritance from the Father with the power of yoga. You claim a physical inheritance from a physical father whereas that One is the spiritual Father from whom you spiritual children receive your spiritual inheritance. Each one of you has to claim your inheritance directly from the Father. The more you individuallyremember the Father, the more inheritance you will receive. When the Father sees that you fight among yourselves, He would ask: Are you orphans? Spiritual brothers should never fight among themselves. If, as brothers, you fight among yourselves, if there is no love, then it is as though you belong to Ravan. All of them are devilish children. In that case, since you fight when you are body conscious it would be as though there is no difference between devilish children and Godly children. Souls do not fight with souls and this is why the Father says: Sweetest children, do not become like salt water with each other. It is when you become like that that the Father explains to you. Then, the Father would say that you are body-conscious children, that you are Ravan’s children, not His children, because you live with each other like salt water. You remain like milk and sugar for 21 births. At this time, you have to remain soul conscious. If you don’t get on with one another, you should consider yourselves as belonging to the community of Ravan at that time. By being like salt water with each other, you cause the Father to lose His honour. Even though you are called the children of God, if there are devilish traits in you, you are body conscious. Soul-conscious children have Godly virtues in them. When you imbibe Godly virtues here, the Father will take you back with Him, and you will then carry those sanskars back with you. The Father is aware that the children are body conscious and live like salt water. They cannot be called the children of God. They cause so much loss for themselves. They become influenced by Maya; they become like salt water with each other (those who have conflict). In fact, the whole world is like salt water, so if even the children of God become like salt water, what is the difference? They cause the Father to be defamed. Those who become like salt water and cause the Father to be defamed cannot reach their destination. They can even be called atheists. Children who become theists can never fight with anyone. You mustn’t fight among yourselves. You have to learn to live with one another with love here so that there will then be that love for 21 births. If, after calling yourselves the children of the Father, you don’t become brothers, then you are devilish children. The Father speaks the murli in order to explain to you children. However, because of body consciousness, some don’t even realise that the Father is saying this to them. Maya is very clever. Just as a mouse bites in such a way that you are not even aware of it, so Maya too blows on you very sweetly and then bites you and you are not even aware of it. To sulk with each other is the work of the devilish community. At many centres, children are like salt water. No one has as yet become perfect. Maya continues to wage war. Maya scalps you in such a way that you are unaware of it. You have to ask your hearts whether you have love in your hearts for one another or not. You are children of the Ocean of Love and so you have to become the Ganges overflowing with love. Instead of fighting and quarrelling and saying bad or wrong things, it is better not to say anything. Hear no evil! If anyone has a trace of anger, there isn’t that love. This is why Baba says: Write your chart every day. If you are unable to reform your devilish behaviour, what would be the consequence of that? What status will you receive? The Father explains: If someone doesn’t do service, what would his condition become? His status would be reduced. Everyone is going to have visions. You too will have visions of your study. It is only after you have had visions that you are transferred. After being transferred you will go to the new world. At the end, you will have visions of everything – who has passed and with how many marks. Then there will be weeping and wailing. Punishment will be experienced and there will be repentance because you didn’t listen to Baba. Baba repeatedly explains to you: You mustn’t have any devilish traits in you. Those who have divine virtues should make others similar to themselves. It is very easy to remember the Father: Alpha and beta. Alpha means the Father and beta means the sovereignty. Therefore, children, you should have intoxication. If you are like salt water with each other, how could you be considered to be God’s children? Baba would think that you are devilish children and that Maya has caught hold of you by the nose. They don’t even realise that their stage is fluctuating and that their status becomes reduced. You children should try to teach them with love. Let there be the vision of love. The Father is the Ocean of Love and so He attracts you children. You too have to become oceans of love. The Father explains to you children with a lot of love and gives you good directions. By following God’s directions, you become flowers. He gives you all virtues. Deities have love, and so you have to create that stage here. You have knowledge at this time, but when you have become deities, you will not have this knowledge; there is just divine love there. Therefore, you children also have to imbibe divine virtues now. You are now making effort to become worthy of worship. You are now at the confluence age. The Father comes in Bharat and people celebrate the birthday of Shiva, but they don’t know who He is, when He comes or what He does. You children know this at this time, numberwise, according to your efforts. Those who don’t know are unable to explain to anyone, and their status is then reduced. Amongst those who study at school, the behaviour of some is bad and the behaviour of some is always good. Some are always present and some remain absent. Here, those who always remember the Father and spin the discus of self-realisation are present. The Father says: While walking and moving around, consider yourselves to be spinners of the discus of self-realisation. When you forget this, you are absent. Only when you are always present will you receive a high status. If you forget you will receive a low status. The Father knows that there is still time. The discus would be spinning in the intellects of those who are to claim a high status. It is said: Let there be remembrance of Shiv Baba, let there be the nectar of knowledge in your mouth and then leave your body. If there is love for anything, you will continue to remember that in the final moments. If there is greed for food, then, at the time of dying, you would constantly remember that you want to eat that. Your status would then be destroyed. The Father says: Die while spinning the discus of self-realisation. Do not remember anything else. Souls have to go back as they came, without any relationships. Greed is no less. If there is greed, you will continue to remember the thing for which there is greed at the end and, if you don’t receive it, you will die with that desire. Therefore, you children should not have any greed etc. The Father explains a great deal, but only those who are to understand will understand. Let the remembrance of the Father cling to your heart: Baba, oh Baba! You mustn’t even say, “Baba, Baba!” Let the soundless chant continue internally. Only when you shed that body in remembrance of the Father and in the karmateet stage can you claim a high status. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become an overflowing Ganges of love. Let there be the vision of love for everyone. Never use wrong words.
  2. Do not have greed for anything. Be a spinner of the discus of self-realisation. Practise so that you do not remember anything at the end.
Blessing: May you receive a medal in the form of an elevated stage in your Brahmin life and thereby become an emperor of the carefree land.
All of you have become Brahmins in order to make your personal stage the best of all. In Brahmin life, an elevated stage is your personal property; it is the medal of Brahmin life. Those who receive this medal remain constantly stable in an unshakeable, immovable and constant stage and are constantly carefree, they become the emperors of the carefree land. They remain free from all desires and are the embodiments of being ignorant of any knowledge of desire.
Slogan: When you finish body consciousness, all adverse situations automatically finish.

*** Om Shanti ***

Sweet elevated versions of Mateshwariji.

The Mahabharata is being repeatedpractically at the time of this confluence age.

Look, they say that a battle took place between the Kauravas and Pandavas in Kurukshetra and then they show that the companion of the Pandavas was Shri Krishna who gave them directions. So, the side that has the Lord of Matter with them will definitely win. Look, how they have confused everything. First of all, you have to understand that the Lord of Matter is not Krishna. It is the Supreme Soul who is the Lord of Matter, whereas Krishna is the first deity of the golden age and he cannot be called God. So, the Co-charioteer of the Pandavas is God and not Shri Krishna. God cannot teach us children violence nor would the Pandavas engage in a violent battle and claim self-sovereignty. This world is the field of action in which whatever type of seeds people sow through their actions, they accordingly receive good or bad fruit. On this field of action, Pandavas and the mothers of Bharat, the incarnations of Shakti, are present. God comes in the land of Bharat and this is why Bharat is said to be the imperishable land. God has specially incarnated in the land of Bharat because the expansion of irreligiousness came from the land of Bharat. It was here that God destroyed the kingdom of the Kauravas with yoga power and established the kingdom of the Pandavas. So, God came and established the kingdom of righteousness, but the people of Bharat have forgotten their great pure religion and elevated actions and have called themselves Hindus. Because of not knowing their own religion, the poor things have been converted into other religions. This is unlimited knowledge which the unlimited Master, Himself, tells us. They have forgotten their original religion and become trapped in limited thigs. This is said to be extreme defamation of religion because all of those religions are of matter. However, there first has to be religion of the one self. So, the original religion of one self, of each one is: I, a soul, am a being of peace; then the religion of matter (of bodies) is the deity religion. The 33 crore (330 million) residents of Bharat are deities. This is why God says: Renounce all the innumerable bodily religions, renounce all other religions. There has been so much revolution because of those limited religions. So, now, move away from limited religions and go into the unlimited. You have to have yoga with that unlimited Father, the Almighty Authority, God, and this is why the Almighty Authority, the Lord of Matter, is the Supreme Soul and not Krishna. So, a cycle ago, too, the victory of the side that personally had the Lord of Matter, God, with them is remembered. Achcha.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 28 JUNE 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 June 2019

To Read Murli 27 June 2019 :- Click Here
28-06-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम आपस में रूहानी भाई-भाई हो, तुम्हारा एक-दो से अति प्यार होना चाहिए, तुम प्रेम से भरपूर गंगा बनो, कभी भी लड़ना-झगड़ना नहीं”
प्रश्नः- रूहानी बाप को कौन-से बच्चे बहुत-बहुत प्यारे लगते हैं?
उत्तर:- 1. जो श्रीमत पर सारे विश्व का कल्याण कर रहे हैं, 2. जो फूल बने हैं, कभी भी किसी को कांटा नहीं लगाते, आपस में बहुत-बहुत प्यार से रहते हैं, कभी रूसते नहीं – ऐसे बच्चे बाप को बहुत-बहुत प्यारे लगते हैं। जो देह-अभिमान में आकर आपस में लड़ते हैं, लून-पानी होते हैं, वह बाप की इज्ज़त गंवाते हैं। वह बाप की निंदा कराने वाले निंदक हैं।

ओम् शान्ति। जैसे रूहानी बच्चों को अब रूहानी बाप प्यारा लगता है, वैसे रूहानी बाप को रूहानी बच्चे भी प्यारे लगते हैं क्योंकि श्रीमत पर सारे विश्व का कल्याण कर रहे हैं, कल्याणकारी सब प्यारे लगते हैं। तुम भी आपस में भाई-भाई हो, तो तुम भी जरूर एक-दो को प्यारे लगेंगे। बाहर वालों से इतना प्यार नहीं रहेगा, जितना बाप के बच्चों का आपस में होगा। तुम्हारा भी आपस में बहुत-बहुत प्यार होना चाहिए। अगर भाई-भाई यहाँ ही लड़ते-झगड़ते हैं या प्यार नहीं करते तो वह भाई नहीं ठहरे। तुम्हारा आपस में लव होना चाहिए। बाप का भी आत्माओं से लव है ना। तो आत्माओं का भी आपस में बहुत लव होना चाहिए। सतयुग में सब आत्मायें एक-दो को प्यारी लगती हैं क्योंकि शरीर का अभिमान टूट जाता है। तुम भाई-भाई एक बाप की याद से सारे विश्व का कल्याण करते हो, अपना भी कल्याण करते हो तो भाइयों का भी कल्याण करना चाहिए इसलिए बाप देह-अभिमानी से देही-अभिमानी बना रहे हैं। वो लौकिक भाई-भाई तो आपस में धन के लिए, हिस्से के लिए लड़ पड़ते हैं। यहाँ लड़ने-झगड़ने की बात नहीं, हर एक को डायरेक्ट कनेक्शन रखना पड़ता है। यह है बेहद की बात। योगबल से बाप से वर्सा लेना है। लौकिक बाप से स्थूल वर्सा लेते हैं, यह तो है रूहानी बाप से रूहानी बच्चों को रूहानी वर्सा। हर एक को डायरेक्ट बाप से वर्सा लेना है। जितना-जितना इन्डिविज्युअल बाप को याद करेंगे उतना वर्सा मिलेगा। बाप देखेंगे आपस में लड़ते हैं तो बाप कहेंगे तुम निधनके हो क्या? रूहानी भाई-भाई को झगड़ना नहीं चाहिए। अगर भाई-भाई होकर आपस में लड़ते-झगड़ते हैं, प्यार नहीं, तो जैसे रावण के बन जाते हैं। वह सब आसुरी सन्तान ठहरे। फिर दैवी सन्तान और आसुरी सन्तान में जैसेकि फ़र्क नहीं रहता क्योंकि देह-अभिमानी बनकर ही लड़ते हैं। आत्मा, आत्मा से लड़ती नहीं है इसलिए बाप कहते हैं मीठे-मीठे बच्चे, आपस में लूनपानी नहीं होना। होते हैं तब समझाया जाता है। फिर बाप कहेंगे यह तो देह-अभिमानी बच्चे हैं, रावण के बच्चे हैं, हमारे तो नहीं है, क्योंकि आपस में लूनपानी होकर रहते हैं। तुम 21 जन्म क्षीरखण्ड होकर रहते हो। इस समय देही-अभिमानी बन रहना है। अगर आपस में नहीं बनती है तो उस समय के लिए रावण सम्प्रदाय समझना चाहिए। आपस में लूनपानी होने से बाप की इज्ज़त गंवायेंगे। भल ईश्वरीय सन्तान कहते हैं परन्तु आसुरी गुण हैं तो जैसे देह-अभिमानी हैं। देही-अभिमानी में ईश्वरीय गुण होते हैं। यहाँ तुम ईश्वरीय गुण धारण करेंगे तब ही बाप साथ में ले जायेंगे, फिर वही संस्कार साथ में जायेंगे। बाप को मालूम पड़ता है कि बच्चे देह-अभिमान में आकर लूनपानी हो रहते हैं। वह ईश्वरीय बच्चे कहला न सकें। कितना अपने को घाटा डालते हैं। माया के वश हो जाते हैं। आपस में लूनपानी (नमक-पानी, मतभेद) हो जाते हैं। यूँ तो सारी दुनिया ही लूनपानी है लेकिन अगर ईश्वरीय सन्तान भी लूनपानी हो तो बाकी फ़र्क क्या रहा? वह तो बाप की निंदा कराते हैं। बाप की निंदा कराने वाले, लूनपानी होने वाले ठौर पा न सकें। उनको नास्तिक भी कह सकते हैं। आस्तिक होने वाले बच्चे कभी लड़ नहीं सकते। तुम्हें आपस में लड़ना नहीं है। प्रेम से रहना यहाँ ही सीखना है, जो फिर 21 जन्म आपस में प्रेम रहेगा। बाप के बच्चे कहलाकर फिर भाई-भाई नहीं बनते तो वह आसुरी सन्तान ठहरे। बाप बच्चों को समझाने के लिए मुरली चलाते हैं। लेकिन देह-अभिमान के कारण उन्हों को यह भी मालूम नहीं पड़ता कि बाबा हमारे लिए कह रहे हैं। माया बड़ी तीखी है। जैसे चूहा काटता है, जो मालूम ही नहीं पड़ता है। माया भी बड़ी मीठी-मीठी फूंक दे और काट लेती है। पता भी नहीं पड़ता है। आपस में रूसना आदि आसुरी सम्प्रदाय का काम है। बहुत सेन्टर्स में लूनपानी होकर रहते हैं। अभी कोई परफेक्ट तो बने नहीं हैं, माया वार करती रहती है। माया ऐसा माथा मूड़ लेती है जो पता नहीं पड़ता है। अपने दिल से पूछना है कि हमारा आपस में प्रेम है वा नहीं? प्रेम के सागर के बच्चे हो तो प्रेम से भरपूर गंगा बनना चाहिए। लड़ना-झगड़ना, उल्टा-सुल्टा बोलना, इससे न बोलना अच्छा है। हियर नो ईविल…….। अगर किसी में क्रोध का अंश है, तो वह लव नहीं रहता है इसलिए बाबा कहते हैं रोज़ अपना पोतामेल निकालो, आसुरी चलन सुधरती नहीं तो फिर नतीजा क्या निकलता है? क्या पद पायेंगे? बाप समझाते हैं कोई सर्विस नहीं करेंगे तो फिर क्या हालत हो जायेगी? पद कम हो जायेगा। साक्षात्कार तो सबको होना ही है, तुमको भी अपनी पढ़ाई का साक्षात्कार होता है। साक्षात्कार होने के बाद ही फिर तुम ट्रांसफर होते हो, ट्रांसफर होकर तुम नई दुनिया में आ जायेंगे। पिछाड़ी में सब साक्षात्कार होगा, कौन-कौन किस मार्क्स से पास हुआ है? फिर रोंयेंगे, पीटेंगे, सजायें भी खायेंगे, पछतायेंगे – बाबा का कहना नहीं माना। बाबा ने तो बार-बार समझाया है कोई आसुरी गुण नहीं होना चाहिए। जिनमें दैवीगुण है उनको ऐसा आप समान बनाना चाहिए। बाप को याद करना तो बहुत सहज है – अल्फ और बे। अल्फ माना बाप, बे बादशाही। तो बच्चों को नशा रहना चाहिए। अगर आपस में लूनपानी होंगे तो फिर ईश्वरीय औलाद कैसे समझेंगे। बाबा समझेंगे यह आसुरी औलाद है, माया ने इसे नाक से पकड़ लिया है। उनको पता भी नहीं पड़ता है, सारी अवस्था डांवाडोल, पद कम हो पड़ता है। तुम बच्चों को उन्हें प्रेम से सिखाने की कोशिश करनी चाहिए, प्रेम की दृष्टि रहनी चाहिए। बाप प्रेम का सागर है तो बच्चों को भी खींचते हैं ना। तो तुमको भी प्रेम का सागर बनना है।

बाप बच्चों को बहुत प्यार से समझाते हैं, अच्छी मत देते हैं। ईश्वरीय मत मिलने से तूम फूल बन जाते हो। सब गुण तुमको देते हैं। देवताओं में प्यार है ना। तो वह अवस्था तुम्हें यहाँ जमानी है। इस समय तुमको नॉलेज है फिर देवता बन गये तो नॉलेज नहीं रहेगी। वहाँ दैवी प्यार ही रहता है। तो बच्चों को अब दैवीगुण भी धारण करने हैं। अभी तुम पूज्य बनने लिए पुरूषार्थ कर रहे हो। अभी संगम पर हो। बाप भी भारत में आते हैं, शिवजयन्ती मनाते हैं। परन्तु वह कौन है, कैसे, कब आते, क्या करते हैं? यह नहीं जानते। तुम बच्चे भी अभी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जानते हो, जो नहीं जानते वह किसको समझा भी नहीं सकते फिर पद कम हो जाता है। स्कूल में पढ़ने वालों में कोई की चलन खराब होती है तो कोई की सदैव अच्छी चलन रहती है। कोई प्रेजेन्ट रहे, कोई अबसेन्ट। यहाँ प्रेजेन्ट वह है जो सदैव बाप को याद करते हैं, स्वदर्शन चक्र फिराते रहते हैं। बाप कहते हैं उठते-बैठते तुम अपने को स्वदर्शन चक्रधारी समझो। भूलते हो तो अबसेन्ट हो जाते हो, जब सदैव प्रेजेन्ट होंगे तब ही ऊंच पद पायेंगे, भूल जायेंगे तो कम पद पायेंगे। बाप जानते हैं अभी टाइम पड़ा है। ऊंच पद पाने वालों की बुद्धि में यह चक्र फिरता होगा। कहा जाता है शिवबाबा की याद हो, मुख में ज्ञान अमृत हो तब प्राण तन से निकलें। अगर कोई चीज से प्रीत होगी तो अन्तकाल में वह याद आती रहेगी। खाने का लोभ होगा तो मरने के समय वह चीज ही याद आती रहेगी, यह खाऊं। फिर पद भ्रष्ट हो पड़ेगा। बाप तो कहते हैं स्वदर्शन चक्रधारी होकर मरो, और कुछ भी याद न आये। बिगर कोई सम्बन्ध जैसे आत्मा आई है, वैसे जाना है। लोभ भी कम नहीं। लोभ है तो पिछाड़ी समय वही याद आता रहेगा, नहीं मिला तो उसी आश में मर जायेंगे इसलिए तुम बच्चों में लोभ आदि भी नहीं होना चाहिए। बाप समझाते तो बहुत हैं परन्तु समझने वाले कोई समझें। बाप की याद को एकदम सीने से लगा दो – बाबा, ओहो बाबा। बाबा-बाबा मुख से कहना भी नहीं है। अजपाजाप चलता रहे। बाप की याद में, कर्मातीत अवस्था में यह शरीर छूटे तब ऊंच पद पा सकते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1. प्रेम से भरपूर गंगा बनना है। सबके प्रति प्रेम की दृष्टि रखनी है। कभी भी मुख से उल्टे बोल नहीं बोलने हैं।

2. किसी भी चीज़ में लोभ नहीं रखना है। स्वदर्शन चक्रधारी होकर रहना है। अभ्यास करना है कि अन्त समय कोई भी चीज़ याद न आये।

वरदान:- ब्राह्मण जीवन में श्रेष्ठ स्थिति रूपी मैडल प्राप्त करने वाले बेगमपुर के बादशाह भव
आप सब अपनी स्वस्थिति अच्छे से अच्छी बनाने के लिए ही ब्राह्मण बने हो। ब्राह्मण जीवन में श्रेष्ठ स्थिति ही आपकी प्रापर्टी है। यही ब्राह्मण जीवन का मैडल है। जो यह मैडल प्राप्त कर लेते हैं वह सदा अचल अडोल एकरस स्थिति में रहते, सदा निश्चितं, बेगमपुर के बादशाह बन जाते हैं। वे सर्व इच्छाओं से मुक्त, इच्छा मात्रम् अविद्या स्वरूप होते हैं।
स्लोगन:- देह अभिमान को मिटा दो तो सर्व परिस्थितियां स्वत: मिट जायेंगी।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य

“इस संगम समय पर प्रैक्टिकल महाभारत रिपीट हो रहा है”

देखो, मनुष्य कहते हैं कौरवों और पाण्डवों की आपस में कुरुक्षेत्र में लड़ाई लगी है और फिर दिखलाते हैं पाण्डवों का साथी डायरेक्शन देने वाला श्रीकृष्ण था, तो जिस तरफ स्वयं प्रकृति पति है उसकी तो विजय जरूर होगी। देखो, सभी बातें मिला दी हैं, अभी पहले तो इस बात को समझो कि प्रकृतिपति कोई कृष्ण नहीं है। प्रकृतिपति तो परम आत्मा है, कृष्ण तो सतयुग का पहला देवता है, उसको भगवान नहीं कह सकते। तो पाण्डवों का सारथी परमात्मा था न कि श्रीकृष्ण। अब परमात्मा हम बच्चों को कभी हिंसा नहीं सिखला सकता है, न पाण्डवों ने हिंसक लड़ाई कर स्वराज्य लिया। यह दुनिया कर्मक्षेत्र है जिसमें मनुष्य जैसा-जैसा कर्म कर बीज़ बोता है वैसा अच्छा बुरा फल भोगता है। जिस कर्म क्षेत्र पर पाण्डव अर्थात् भारत माता शक्ति अवतार भी मौजूद हैं। परमात्मा आता भी भारत खण्ड में है इसलिए भारत खण्ड को अविनाशी कहा जाता है। परमात्मा का अवतरण खास भारत खण्ड में हुआ है क्योंकि अधर्म की वृद्धि भी भारतखण्ड से हुई है। वहाँ ही परमात्मा ने योग बल द्वारा कौरव राज्य खत्म कर पाण्डवों का राज्य स्थापन किया। तो परमात्मा ने आए धर्म का राज्य स्थापन किया परन्तु भारतवासी अपने महान पवित्र धर्म और श्रेष्ठ कर्म को भूल अपने को हिन्दू कहलाते हैं। बिचारे अपने धर्मों को न जान औरों के धर्म में जुट गये हैं। तो यह बेहद का ज्ञान, बेहद का मालिक खुद ही बताता है। यह तो अपने स्वधर्म को भूल हद में फंस गये हैं जिसको कहा जाता है अति धर्म ग्लानि क्योंकि यह सब प्रकृति के धर्म हैं परन्तु पहले चाहिए स्वधर्म, तो हर एक का स्वधर्म है कि मैं आत्मा शान्त-स्वरूप हूँ फिर अपनी प्रकृति का धर्म है देवता धर्म, यह 33 करोड़ भारतवासी देवतायें हैं। तभी तो परमात्मा कहता है अनेक देह के धर्मों का त्याग करो, सर्व धर्मानि परित्यज्… इस हद के धर्मों में इतना आंदोलन हो गया है। तो अब इन हद के धर्मों से निकल बेहद में जाना है। उस बेहद के बाप सर्वशक्तिवान परमात्मा साथ योग लगाना है इसलिए सर्वशक्तिवान प्रकृति पति परमात्मा है, न कि कृष्ण। तो कल्प पहले भी जिस तरफ साक्षात् प्रकृतिपति परमात्मा थे उनकी विजय गायी हुई है। अच्छा।

TODAY MURLI 28 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 June 2018 :- Click Here

28/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, just as the Father has mercy for everyone and doesn’t feel dislike for anyone, in the same way, you children, too, mustn’t dislike anyone. Become merciful.
Question: What one plan does the merciful Father have for the whole world?
Answer: To make all human souls and the elements pure from impure and give the inheritance of liberation and liberation-in-life is the only plan the Father has. You children are the Father’s helpers. You first have to have mercy on yourselves. Follow shrimat and make yourselves pure. Then serve to remove everyone from the rubbish of all the vices.
Song: Who has come to the door of my mind with the sound of ankle-bells? 

Om shanti. Who has come? The Father has come. To whom? To the children. To whom have the children come? The Father says: To Me. You are now personally sitting in front Him. You know that the Father is very merciful. The Father knows that Maya has made His children very unhappy and impure. Children don’t know this. The Father knows this and He therefore feels mercy. He doesn’t have dislike. The Father says: I sent you into relationships of happiness. It is a matter of 5000 years. Then, according to the drama, Maya made you unhappy. At first you were satopradhan and you then went through the stages of sato, rajo and tamo. I know that you are My children. I Myself have to come to make you children pure and to give you your fortune of the kingdom. You children also understand that the Father truly has come. He is the Ocean of Love and the Ocean of Peace. He takes us to the world of happiness and peace. The Father knows that it is this Maya that is the greatest enemy of all. This is why I have come. However, because I am without an image, no one recognises Me. Previously, you used to believe that Krishna came and taught you Raja Yoga and made you into the masters of the world. However, no one knows when or how he made you that. The Father now feels a lot of mercy because He knows that children are now influenced by Maya, that is, by the five vices. You are under an external influence and so I liberate you from that. The Father says: Children, for My sake, for the sake of Bharat and for the whole universe , now follow My directions! Remember Me and also become merciful. Give everyone the Father’s introduction. Judges make people take the oath in the name of God , but why? No one knows who God is. They simply speak of God. There is also the term ‘Fathe r’. When they make a person take the oath, they don’t understand anything. They say: Take the oath in the name of God, the Father. However, they don’t know the Father. You children now know that He is God, the Father. People take the oath because they understand that if they performed wrong actions, the Father would punish them just as when children do something wrong at home they become afraid that perhaps their father would slap them. People take the oath in the name of God, but they don’t know who God is or how He would give punishment. Christians take the oath on the Bible. Others would swear on the Gita. They believe that Krishna was the God of the Gita; so they ask for forgiveness, keeping Krishna in front of them. They believe that if they lied, they would be punished. However, the Father is called the Truth. The whole world would not accept Christ as the TruthGod, the Father, is the One who is always truthful, but no one knows Him. It is when the Father comes and gives birth to the children that the children can know the Father. You children now know that Baba has made you belong to Him. He has created you through this mother. He is called Adi Dev. In fact, this one is also Adi Devi. If Mama is called Adi Devi, then this one becomes a greater Adi Devi than her. These are very deep things. Only those who have broad and unlimited intellects can understand these things. They say that the Father is the One who makes impure ones pure. Achcha, which one is the pure world? Should liberation be called the pure world or should liberation-in-life be called the pure world? No one knows this. They sing a great deal, but they only have in their intellects that God comes. However, they don’t know His form etc. They call Him omnipresent. The Father is very merciful. He is the Ocean of Love. Therefore, children, you too should have mercy; you should have love. The Father has a lot of mercy and this is why He is called merciful. The Father says: I am merciful to the elements and the whole world. I am knowledge-full. I am also full of love. I make you very lovely. Just as Shri Krishna is lovely, so everyone in his dynasty is lovely. In fact, you would use the word dynasty for a king. It would be said: The kingdom of King Edward. You wouldn’t call it the kingdom of the Prince of Wales. The prince then becomes the king. It is the same here. The Christians have a lot of connection with the kingdom of Krishna. Those Christians earn a lot from the kingdom of Krishna. They first take over the kingdom of Krishna and then give it back. It can be called the kingdom of Krishna or the kingdom of Lakshmi and Narayan. Those Christians will now give the kingdom of the world to Krishna. This is such a wonderful secret! They are the ones who help the kingdom of Krishna. Eventually, they will give the whole kingdom to Krishna. This is why butter has been shown in Krishna’s mouth. It isn’t that there is a ball of butter. Two monkeys fight between themselves and Krishna takes the butter. It isn’t brothers that fight, but monkeys that fight. The five vices of monkeys are very well known. You are now creating the dynasty of Krishna. You are to receive the butter of being the masters of the world. Look what the exchange or the account of karma is! Look at the actions of the Christians: they take the kingdom but they have to give it back again. They fight so much among themselves. Nevertheless, you are going to receive the butter of the kingdom; you will become princes and princesses. You children have to become very merciful oceans of love. You mustn’t have dislike like people in the world have dislike for one another. As are the kings and queens, so the people too have dislike for others, numberwise. They fight among themselves and kill one another. The Father explains to you very clearly: There is no question of dislike in this. The drama is predestined. Each human being calls himself a degraded sinner. They go to the temples and have dislike for themselves. They consider the mahatmas to be pure and fall at their feet. They say: You are pure and we are impure. Only the Father knows all of these things. People ask others to take the oath in the name of God, the Father, but that too is a false oath because they don’t know God, the Father. When they take the oath in the name of God, the Father, it should enter their intellects that they have to receive the inheritance from Him. No one knows what heaven is, but they say that when so-and-so died, he became a resident of heaven. So, where did he go? They don’t understand anything at all! The Father doesn’t dislike anyone. He has love for everyone. You children are now personally in front of Him. He explains to the children in particular and to everyone else in general. I teach you children and give you liberation-in-life and take everyone else to the land of liberation. I have love for everyone. That Government continues to make many plans. Baba says: I just have the one plan of making impure human beings into pure deities. Human beings call out: O Purifier, come! Then, because of not knowing Him, they say that they themselves are the Purifier. The Father explains: First of all, serve the biggest ChiefJustice. Ask him: The Father of souls is One, and so why do you ask people to take the oath in His name? Do you remember Krishna while taking the oath? Ask the Christians whether they remember Christ or God, the Father. You know that if you do something sinful, punishment would have to be experienced for that, but the Father never gives punishment. He is Karankaravanhar. He enables punishment to be given by Dharamraj. God is the most beloved Father. Those people falsely accuse the Father of giving happiness and sorrow. So, is He merciless? People sing: He is merciful. The Father says: How could I be merciless? Maya has been merciless to you. I liberate you from her. Maya has cursed you. This too is in the play. The land of happiness had to become the land of sorrow: Bharat was the land of happiness and it is now the land of sorrow. Baba once again makes you into the masters of the land of happiness. However, it isn’t that He Himself would also make you into the masters of the land of sorrow. Children say: Baba, you are the Ocean of Love. Baba, I will follow Your shrimat and make myself pure. I will have mercy on myself. To the extent that you study with the T eacher, accordingly, you have mercy on yourselves. Otherwise, you will fail. You now have this knowledge clearly in your intellects. You know that only the one Father is knowledge-full, merciful and the One to make you pure from impure. Therefore, you have to follow His directions. Your own directions means Ravan’s directions. When you don’t follow shrimat but follow your own directions instead or the directions of other human beings, you become deceived. If you follow shrimat at every step, your boat goes across. The climb is very steep. Many types of Maya’s storms also come. However, the Father doesn’t dislike anyone. You children too have to become the same. All are sinners like Ajamil. Just as you say that you are a one month old child, so there is also a song: I am a small child. You have many children who came earlier whom You are purifying. So, also make me, Your small child, pure. He says: Follow shrimat and you will be able to go well ahead of the ones who came earlier. You also receive a lift. When you come later, you receive the donation of yoga from the Shaktis. Shaktis are also numberwise. It isn’t said: Connect your intellects in yoga to us Shaktis. No, listen to the conch shell from the Shaktis, but connect your intellects in yoga to Baba. Remember Baba and your sins will be absolved. You have to beat the drums about this. This is not a question of blind faith. There cannot be any blind faith in a college. This is the God f atherly University. Knowledge-full God, the Father, sits here and teaches us. Your aim and objective is to become deities from human beings. Those people become barristersfrom human beings. Therefore, their intellects yoga is connected to their barrister, not to their doctor. This is a college, not blind faith. There is an aim and objectiveGod, the Father , continues to teach us. “God speaks” is mentioned in the Gita, but who is God? Even those who study the Gita don’t know this. This Brahma also used to say: I too studied the Gita. Human beings of today don’t believe in the scriptures. By taking up the Gita, their intellects go to Krishna. Not everyone of all religions would believe in him. The Gita spoken by Shiv Baba is the jewel of all the scriptures. God, the Father , says: I am the Creator of heaven. Therefore, you should receive your inheritance of heaven from the Father. Or, you will have to go to the Father’s home. Everyone wants to go to God. Everyone wants liberation. What do those people know of liberation-in-life? The Father says: I teach you, so how could I be omnipresent? Your mouths are not sweetened by calling Me omnipresent. Therefore, children, imbibe these things very well and become very sweet. Don’t dislike anyone. No matter how bad is the illness that someone has, surgeons still feel mercy for that patient and try to cure him. You understand that that is the suffering of karma for the bad actions he has performed. The Father says: When Maya enters human beings, they perform sinful actions and become impure. They consider the five vices to be very bad. This is why even sannyasis run away. A lot of respect is given to purity. You understand that you first of all bowed down to the deity idols and that you then bowed down to the sannyasis because they too became pure. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Study very well, follow shrimat, become pure and have mercy for yourself. Never become merciless.
  2. Don’t dislike anyone. Become an ocean of love, like the Father.
Blessing: May you be seated on BapDada’s heart-throne while living at home with your family by being surrendered and having the concern for service.
With the co-operation of the children who are surrendered while living with their families, the tree of service becomes fruitful. Their co-operation becomes the water for tree. Just as a tree bears good fruit when it receives water, in the same way, with the co-operation of the elevated co-operative souls, the tree becomes fruitful. Those who have the concern for service in this way and who are surrendered while living with their families become seated on BapDada’s heart-throne.
Slogan: Learn the art of steering your thoughts and applying a brake to them in the least time and the energy of your intellect will not be wasted.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 28 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 June 2018

To Read Murli 27 June 2018 :- Click Here
28-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – जैसे बाप को सभी पर तरस आता, ऩफरत नहीं आती, ऐसे तुम बच्चे भी किसी से नफरत मत करो, रहमदिल बनो।”
प्रश्नः- रहमदिल बाप का सारे विश्व के प्रति एक ही प्लैन है, वह कौन सा?
उत्तर:- सभी मनुष्य आत्माओं को तत्वों सहित पतित से पावन बनाना, मुक्ति और जीवन्मुक्ति का वर्सा देना। यह एक ही प्लैन बाप का है। तुम बच्चे बाप के मददगार हो। तुम्हें पहले अपने पर रहम करना है। श्रीमत पर चल अपने को पावन बनाना है। फिर सभी को विकारों रूपी गन्दगी से निकालने की सेवा करनी है।
गीत:- कौन आया मेरे मन के द्वारे… 

ओम् शान्ति। कौन आया? बाप आया। किसके पास? बच्चों के पास। बच्चे किसके पास आये हैं? बाप कहते हैं मेरे पास। अब तुम सम्मुख बैठे हो। जानते हो बाप बहुत रहमदिल है। बाप जानते हैं कि इन हमारे बच्चों को माया ने बहुत दु:खी पतित किया है। यह बच्चे नहीं जानते। बाप जानते हैं तो बाप को तरस पड़ता है ना। ऩफरत नहीं आयेगी। बाप कहते हैं मैंने तुमको सुख के सम्बन्ध में भेजा था। पांच हजार वर्ष की बात है। फिर ड्रामा अनुसार माया ने तुमको दु:खी किया। पहले तुम सतोप्रधान थे, फिर रजो, तमो में आये हो। यह मैं जानता हूँ। तुम मेरे बच्चे हो। मुझे ही आना होता है तुम बच्चों को पावन बनाने, राज्य-भाग्य देने। बच्चे भी समझते हैं बरोबर बाप आया है। प्रेम का सागर, शान्ति का सागर है। हमको सुख-शान्ति की दुनिया में ले जाते हैं। बाप जानते हैं यह माया ही सबका बड़े ते बड़ा दुश्मन है इसलिए मैं आया हूँ। परन्तु हूँ मैं विचित्र इसलिए मुझे पहचानते नहीं। आगे समझते थे कि कृष्ण ने आकर राजयोग सिखाया, स्वर्ग का मालिक बनाया था। परन्तु कब और कैसे बनाया – यह नहीं जानते। अभी बाप को बहुत रहम आता है क्योंकि जानते हैं बच्चे माया अर्थात् 5 भूतों के वश हो पड़े हैं। परवश हैं, उनको अब लिबरेट करता हूँ। बाप कहते हैं बच्चे अब मेरे कारण वा इस भारत अथवा सारे युनिवर्स के कारण तुम मेरी मत पर चलो। मुझे याद करो और रहम दिल भी बनो। सबको बाप का परिचय दो। जज लोग भी गॉड का कसम उठवाते हैं। परन्तु क्यों? यह कोई नहीं जानते। गॉड है कौन? सिर्फ गॉड कह देते हैं। फादर शब्द भी है। जब कसम उठवाते हैं तो उनको समझ में ही नहीं आता है। कह देते हैं गॉड फादर का कसम उठाओ। परन्तु फादर को तो जानते ही नहीं। अब तुम बच्चे जानते हो वह गॉड फादर है। कसम उठाते हैं क्योंकि समझते हैं अगर हम कुछ उल्टा कर्म करेंगे तो बाप सज़ा देंगे। जैसे घर में बच्चे उल्टा काम करते हैं तो उनको डर रहता है बाप थप्पड़ न मारे। वह कसम गॉड का उठाते हैं। परन्तु जानते नहीं कि गॉड कौन है? कैसे सज़ा देंगे? क्रिश्चियन लोग बाइबिल उठायेंगे। कोई गीता उठायेंगे। समझते हैं गीता का भगवान कृष्ण था। तो कृष्ण को सामने रख क्षमा मांगते हैं। समझते हैं अगर हम झूठ बोलेंगे तो वह दण्ड देंगे। अब ट्रूथ तो बाप को कहेंगे। क्राइस्ट को सारी दुनिया ट्रूथ नहीं कहती। सदा ट्रूथ तो है गॉड फादर परन्तु उसको जानते नहीं। जब बाप आये बच्चों को जन्म दे, तब बच्चे बाप को जानें। अभी तुम बच्चे जानते हो बाबा ने अपना बनाया है। इस माता द्वारा रचा है। उनको आदि देव भी कहा जाता है। वास्तव में आदि देवी भी है। अगर मम्मा को आदि देवी कहें तो उनसे बड़ी आदि देवी यह हो जाती है। यह बड़ी गुह्य बातें हैं। जो विशालबुद्धि हैं वही इन बातों को समझ सकते हैं। कहते भी हैं बाप पतित को पावन बनाने वाला है। अच्छा, पावन दुनिया कौन सी है? क्या मुक्ति को पावन दुनिया कहें वा जीवन्मुक्ति को पावन दुनिया कहें? यह कोई जानते नहीं हैं। गाते तो बहुत हैं। उन्हों की बुद्धि में सिर्फ यह है कि परमात्मा आता है। परन्तु उनका रूप आदि नहीं जानते। फिर कहते हैं सर्वव्यापी है।

बाप बहुत रहमदिल है, प्यार का सागर है। तो बच्चों को भी रहम करना चाहिए। प्यार करना चाहिए। बाप बहुत रहम करते हैं, उनको कहा जाता है मर्सीफुल। बाप कहते हैं तत्वों सहित सारी सृष्टि पर मैं मर्सीफुल हूँ। नॉलेजफुल हूँ। प्यार में भी फुल हूँ। बहुत प्यारा बनाता हूँ। जैसे श्रीकृष्ण कितना प्यारा है! उनके घराने में सब प्यारे हैं। वास्तव में डिनायस्टी हमेशा राजा की कही जाती है। किंग एडवर्ड की राजाई कहेंगे। प्रिन्स आफ वेल्स की नहीं कहेंगे। प्रिन्स फिर किंग हो जाता है। तो यह भी ऐसे है। क्रिश्चियन का कनेक्शन कृष्ण की राजधानी से बहुत है। वह क्रिश्चियन लोग कृष्ण की राजधानी से बहुत कमाते हैं। पहले कृष्ण की राजधानी को अपने हाथ में ले लेते हैं। फिर देते हैं। कृष्ण की कहें अथवा लक्ष्मी-नारायण की राजधानी थी ना। अब वे क्रिश्चियन कृष्ण को विश्व की राजधानी दे देंगे। कितना वण्डरफुल राज़ है! अब वो ही कृष्ण की राजधानी को मदद भी दे रहे हैं। आखरीन सारी राजधानी कृष्ण को देकर जाते हैं इसलिए कृष्ण के मुख में मक्खन दिया है। ऐसे नहीं, मक्खन का कोई गोला है। दो बन्दर आपस में लड़ते हैं तो माखन कृष्ण को मिल जाता है। भाई नहीं लड़ते हैं, बन्दर लड़ते हैं। पांच विकार भी बन्दर में मशहूर हैं। अभी तुम कृष्ण की डिनायस्टी बना रहे हो। विश्व के मालिकपने का माखन तुमको मिलना है। लेन-देन का अथवा कर्मों का हिसाब-किताब कैसा है! क्रिश्चियन के भी कर्म देखो, राजधानी लेकर फिर वापस देना है। आपस में कितना लड़ते हैं! राजाई का मक्खन फिर भी तुमको मिलना है। तुम प्रिन्स-प्रिन्सेज बन जाते हो। तुम बच्चों को भी बड़ा रहमदिल प्यार का सागर बनना है। ऩफरत नहीं लानी है। दुनिया में तो एक दो के लिए ऩफरत रखते हैं। यथा राजा-रानी तथा प्रजा नम्बरवार ऩफरत रखते हैं। आपस में लड़ेंगे-मरेंगे।

बाप बहुत अच्छी रीति समझाते हैं, इसमें घृणा की कोई बात नहीं। यह तो ड्रामा बना हुआ है। हर एक मनुष्य अपने को नीच पापी कहते हैं। मन्दिरों में जाकर अपने ऊपर ऩफरत करते हैं। महात्मा को पवित्र समझ उनके चरणों में गिरते हैं। आप पावन हो हम पतित हैं। इन सब बातों को तो बाप ही जानते हैं।

मनुष्य गॉड फादर के नाम पर कसम उठवाते हैं लेकिन वह भी झूठा कसम हो जाता क्योंकि गॉड फादर को जानते नहीं। अगर गॉड फादर कह कसम उठायें तो बुद्धि में आये कि उनसे तो हमको वर्सा मिलना चाहिए। स्वर्ग क्या होता है, यह किसी को पता नहीं है। अरे तुम तो कहते हो फलाना मरा, स्वर्गवासी हुआ। तो कहाँ गया। कुछ भी समझते नहीं। बाप को कोई के लिए भी ऩफरत नहीं है। सबके लिए प्यार है।

अभी तुम बच्चे सम्मुख हो। बच्चों को ख़ास, बाकी जनरल समझाते हैं। तुम बच्चों को पढ़ाकर जीवन्मुक्ति देता हूँ और सबको मुक्तिधाम में ले जाते हैं। मेरा सब पर प्यार है। उस गवर्मेन्ट के तो अनेक प्लैन्स बनते रहते हैं। बाबा कहते हैं मेरा एक ही प्लैन है। पतित मनुष्य को पावन देवी-देवता बनाना। मनुष्य कहते भी हैं पतित-पावन आओ। फिर उनको न जानने के कारण कह देते हम ही पतित-पावन हैं। तो बाप समझाते हैं पहले तो बड़े ते बड़े चीफ जस्टिस की सर्विस करो। उन्हें समझाना चाहिए आत्मा का बाप तो एक है, उनका कसम तुम क्यों उठवाते हो? क्या कसम उठाने समय कृष्ण याद आता है? क्रिश्चियन से पूछो कि क्राइस्ट याद आता है या गॉड फादर? जानते हो कि पाप करेंगे तो दण्ड भोगना पड़ेगा। परन्तु बाप दण्ड कभी नहीं देता। वह करनकरावनहार है। धर्मराज द्वारा सजा दिलाते हैं। गॉड तो मोस्ट बिलवेड बाप है। वह झूठे कलंक लगाते हैं कि बाप ही सुख-दु:ख देते हैं। तो क्या बेरहम हैं? गाते भी हैं मर्सीफुल। बाप कहते हैं मैं कैसे बेरहमी करुँगा। माया ने तुम्हारे पर बेरहमी की है। मैं तो उनसे छुड़ाता हूँ। माया ने तुमको श्रापित किया है। यह भी खेल है। सुखधाम को दु:खधाम होना ही है। भारत ही सुख-धाम था, अब दु:खधाम है। बाबा फिर सुखधाम का मालिक बनाते हैं। परन्तु ऐसे थोड़ेही दु:खधाम का मालिक खुद ही बनायेंगे। बच्चे कहते हैं बाबा प्यार का सागर है। बाबा आपकी श्रीमत पर चल हम अपने को पावन बनायेंगे। अपने पर रहम करेंगे। जितना टीचर से पढ़ेंगे उतना अपने ऊपर रहम करेंगे। नहीं तो नापास हो पड़ेंगे। अब तुम्हारी बुद्धि में अच्छी रीति नॉलेज है। तुम जानते हो नॉलेजफुल, मर्सीफुल, पतित से पावन बनाने वाला एक ही बाप है। तो उनकी मत पर चलना पड़े। अपनी मत माना रावण की मत। श्रीमत पर न चल अपनी मत पर वा किसी मनुष्य की मत पर चलते हैं तो धोखा खा लेते हैं। श्रीमत पर कदम-कदम चलें तो बेड़ा पार है। चढ़ाई बहुत ऊंची है। माया के तूफान किस्म-किस्म से आते हैं। परन्तु बाप को कोई पर ऩफरत नहीं है। बच्चों को भी ऐसा बनना चाहिए। अजामिल जैसे पापी तो सभी हैं। एक गीत में भी है ना कि मैं एक छोटा सा बच्चा हूँ। जैसे कहते हैं ना कि मैं एक मास का बच्चा हूँ। पुराने बच्चे तो आपके बहुत हैं जिनको आप पावन बना रहे हो। तो मुझ छोटे बच्चे को भी पावन बनाओ। तो कहते हैं कि श्रीमत पर चलो तो पुराने से भी अच्छी रीति आगे जा सकते हो। लिफ्ट भी तो मिलती है। देरी से आने से तुमको शक्तियों से योगदान मिलता है। शक्तियाँ भी नम्बरवार हैं। ऐसे नहीं कहा जाता है कि तुम शक्तियों से बुद्धियोग लगाओ। नहीं, शक्तियों से तुम शंखध्वनि सुनो। बुद्धियोग बाबा से लगाना है। बाबा को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। ढिंढोरा पिटवाना है। यहाँ कोई अन्धश्रद्धा की बात नहीं। कॉलेज में कोई अन्धश्रद्धा नहीं हो सकती। यह है गॉड फादरली युनिवर्सिटी। नॉलेजफुल गॉड फादर बैठ बच्चों को पढ़ाते हैं। तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट है कि हम मनुष्य से देवता बनेंगे। वह मनुष्य से बैरिस्टर बनते हैं तो बुद्धियोग बैरिस्टर के साथ रहता है। डॉक्टर के साथ नहीं रहता। यह भी कॉलेज है, न कि अन्धश्रद्धा। एम ऑब्जेक्ट है। गॉड फादर हमको पढ़ाते रहते हैं। गीता में भी भगवानुवाच है परन्तु भगवान कौन है? – यह गीता वाले भी नहीं जानते। यह ब्रह्मा भी कहते हैं – हम भी गीता पढ़ते थे। अभी के मनुष्य शास्त्रों को मानते नहीं। गीता को उठाने से उनकी बुद्धि चली जाती है कृष्ण की तरफ। उनको सब धर्म वाले नहीं मानेंगे। गीता है सर्वशास्त्रमई शिरोमणी शिवबाबा की गाई हुई। गॉड फादर कहते हैं वह है स्वर्ग का रचयिता। तो बाप से तुमको स्वर्ग का वर्सा मिलना चाहिए या फादर के घर जाना है! भगवान पास जाना चाहते हैं। सब मुक्ति ही चाहते हैं। वह लोग जीवन्मुक्ति से क्या जानें। बाप कहते हैं मैं तो पढ़ाता हूँ। मैं फिर सर्वव्यापी कैसे होऊंगा। सर्वव्यापी कहने से मुख ही मीठा नहीं होता। तो बच्चे, यह बातें अच्छी रीति धारण करो और बहुत मीठे बनो। कोई से ऩफरत नहीं करनी चाहिए। सर्जन लोग होते हैं, किसको कैसी भी गन्दी बीमारी होती है तो भी उनको तरस पड़ता है और शफा देते हैं। समझते भी हैं कुछ खराब काम किया है, उसका यह कर्मभोग है। बाप कहते हैं माया की प्रवेशता होने से मनुष्यों से विकर्म ही होते हैं और पतित बन जाते हैं। पांच विकारों को खराब समझते हैं तब तो सन्यासी भी भागते हैं। पवित्रता का मान बहुत है। यह तो समझते हो हम पहले देवताओं को नमन करते हैं, पीछे सन्यासियों को किया है क्योंकि वे भी पावन बनते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अच्छी रीति पढ़कर, श्रीमत पर चल पावन बन अपने आप पर रहम करना है। कभी भी बेरहमी नहीं बनना है।

2) किसी से भी ऩफरत या घृणा नहीं करनी है। बाप समान प्यार का सागर बनना है।

वरदान:- प्रवृत्ति में रहते भी समर्पित हो सेवा की धुन में रहने वाले बापदादा के दिलतख्तनशीन भव
जो बच्चे प्रवृत्ति में रहते भी समर्पित हैं उनके सहयोग से सेवा का वृक्ष फलीभूत हो जाता है। उनका सहयोग ही वृक्ष का पानी बन जाता है। जैसे वृक्ष को पानी मिलने से अच्छा फल निकलता है ऐसे श्रेष्ठ सहयोगी आत्माओं के सहयोग से वृक्ष फलीभूत होता है। ऐसे सेवा की धुन में सदा रहने वाले, प्रवृत्ति में रहते समर्पित हो चलने वाले बच्चे बापदादा के दिलतख्त नशीन बनते हैं।
स्लोगन:- कम से कम समय में संकल्पों को मोड़ने और ब्रेक लगाने की युक्ति सीख लो तो बुद्धि की शक्ति व्यर्थ नहीं जा सकती।
Font Resize