28 july ki murli

TODAY MURLI 28 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 28 July 2020

28/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are wonderful actors in this unlimited play. This is an eternal play and nothing in it can be changed.
Question: Which deep secrets only the wise, far-sighted children understand?
Answer: The deep secrets of the incorporeal world and the beginning, middle and end of the whole drama can only be understood by the far-sighted children. The full knowledge of the Seed and the tree is in their intellects. They know that every soul is an actor in this unlimited play and that they wear costumes to play their parts from the golden age to the iron age. No actor can return home midway.
Song: You wasted the day in eating and the night in sleeping.

Om shanti. You children heard the song. Some words in that song are right and others are wrong. No one remembers God at the time of happiness. Sorrow definitely has to come. It is when there is sorrow that the Father has to come and give happiness. You sweetest children know that you are now studying for the land of happiness: the land of peace and the land the happiness. First there is liberation, then liberation-in-life. The land of peace is your home; no one plays a part there. When an actor goes home, he doesn’t play a part there. A part is played on a stage. This too is a stage. Just as there are limited plays, so this is an unlimited play. No one except the Father can explain the secrets of its beginning, middle and end. In fact, the words “pilgrimage” and “war” are only used in order to explain to you. There is no war etc. here. The word “pilgrimage” is used, but, in fact, it means remembrance. It is by continually staying in remembrance that you will become pure. This pilgrimage will also end here. You don’t have to go anywhere. It has been explained to you children that you have to become pure and then return home. Impure ones cannot go back home. Consider yourselves to be souls. I, a soul, am filled with a part for the whole cycle. This part is now ending. The Father gives advice: It is very easy, remember Me! Otherwise, you sit here; you don’t go anywhere. The Father comes and says: Remember Me and you will become pure. There is no war. You have to make yourself satopradhan from tamopradhan. It is Maya that has to be conquered. You children know that the cycle of 84 births has to end. Bharat was satopradhan. There would definitely be human beings here. The earth will not change. You now know that you were satopradhan, that you have become tamopradhan and that you have to become satopradhan once again. Human beings call out to Him to come and purify them. However, they don’t know who He is or how He comes. Baba has now made you very sensible. You claim such a high status. Even the poor there were much more elevated than the wealthy here are. Later, there were many big kings and there was plenty of wealth, but they still indulged in vice. The ordinary subjects there (heaven) are a lot more elevated than they (the kings) were. Baba is explaining the difference to you. When the shadow of Ravan falls on souls, they become impure. They call themselves impure in front of the idols of the viceless deities and bow down to them. When the Father comes here, He instantly elevates you; it is a matter of a second. The Father has now given each of you a third eye of knowledge. You children are becoming far-sighted. Your intellects can remember the whole cycle of the drama, starting from the incorporeal world up above. When you go to see a limited drama you can relate everything you saw. You can speak of everything because your intellect is filled with it. The soul fills himself up and then delivers it. Similarly, this is a matter of the unlimited. You children should keep your intellects filled with the secrets of the beginning, middle and end of this unlimited dramawhich continues to repeat. If an actor is removed from a limited play, he can be replaced by another one. When someone falls ill, he is replaced with another. However, this drama is living; there cannot be the slightest change in this. You children know that you are souls. Those bodies are your costumes which you wear to perform your various parts. Your names, forms, lands, features all continue to change. Actors are aware of what they have to act. The Father continues to explain the secrets of the cycle to you children. You come from the golden age to the iron age, then you go home and come down to play your parts anew. It takes time to explain the detail of all of this. Although the knowledge is in the Seed, it takes time to explain it. Your intellects are aware of all the secrets of the Seed and the tree. In that, too, those who are very wise understand that the Seed of this tree is up above. They understand how the tree is created, sustained and then destroyed. This is why the Trimurti has been portrayed. No human being can give the explanation that the Father gives. It is only when they come here that they can know about it. This is why you tell everyone to come here and understand. Some are very staunch in their own beliefs. Therefore, they say that they don’t want to listen to anything. Some listen to you, some even buy your literature whereas others don’t. Your intellects have now become so broad, unlimited and far-sighted. You know about all three worlds. You know the supreme region which is also called the incorporeal world. The subtle region is nothing. The whole connection is with the incorporeal world and the corporeal world; the subtle region only exists now for a short time. All souls have to come down here from up above to play their parts. This tree of all religions is numberwise. This tree is of human beings; it is absolutely accurate. Nothing in it can take place earlier or later, nor can souls sit anywhere else. Souls stand up there in the brahm element just as stars hang in the sky. When those stars are seen from a distance they seem to be tiny but, in fact, they are large. However, souls neither become larger or smaller nor can they ever be destroyed. You go to the golden age and then come into the iron age. You children know that you were in the golden age and that you have now come into the iron age. There is no value left. No matter how much sparkle of Maya there is, it is still the golden age of Ravan whereas that is God’s golden age. People continue to speak of how there will be so much grain in six to seven years, don’t even ask! Look what their plan is and what the plan of you children is! The Father says: My plan is to make the old new. You just have the one plan. You know that you are claiming your inheritance by following the Father’s shrimat. Baba shows you the path. He gives you shrimat and the direction to stay in remembrance. There is the word “direction”. The Father doesn’t speak in Sanskrit. He only explains in Hindi. There are so many languages! There are also interpreters who listen to what is said and then translate it. Many people know Hindi and English; they study them. However, the mothers who look after their homes don’t study that much. Nowadays, when people learn English abroad, they continue to speak English even when they come back here and they can’t even speak Hindi. When they go home, they start speaking to their mothers in English. Their poor mothers become confused because they don’t know English. Then they have to learn broken Hindi. In the golden age, there was one kingdom and one language. That is being established once again. Keep it in your intellects how the world cycle turns every 5000 years. You now have to stay in remembrance of the one Father. You have a lot of time here. In the morning, after bathing etc., you can enjoy yourself a great deal by going for a walk. Just remember internally how all of us are actors. You now have this awareness. Baba has told us the secrets of the cycle of 84 births. We were satopradhan; this is a matter of great happiness. Human beings keep moving around; they have no income whereas you earn a great deal. Keep the cycle in your intellects and also continue to remember the Father. Baba shows you many good ways to earn an income. When children don’t churn the ocean of knowledge, Maya causes their intellects a lot of disturbance. Maya troubles them. Think about how you have gone around the cycle, how you took this many births in the golden age and then continued to come down. You now have to become satopradhan once again. Baba has said: Remember Me and you will become satopradhan. Keep remembrance of Baba in your intellects while walking and moving around and the disturbances of Maya will end and you will experience a great deal of benefit. Even though a couple may come here together, each of them has to make his and her own individual effort and claim a high status. There is a lot of pleasure in coming here alone because you can concentrate on yourself. If there is another person with you, your intellect would be pulled here and there. It is very easy here. There are gardens everywhere. If an engineer saw them, he would think about how he could create a bridge here or there. He would constantly be thinking about what he could do. Plans emerge in the intellect. The intellects of even those who are sitting at home should be connected there. Adopt this habit and just constantly think about this. You have to study and also carry on with your business. The old, the young, the children etc. all have to become pure. Each soul has a right to claim his inheritance from the Father. It is very good to sow this seed in your children in their childhood. No one else can teach this spiritual knowledge. This is your spiritual knowledge which the Father teaches you when He comes. In other schools you receive worldly knowledge, and the other knowledge is that of the scriptures. This is spiritual knowledge which God is teaching you. No one else knows about this. This is called spiritual knowledge which the Spirit comes and teaches you. It cannot be given any other name. The Father Himself comes and teaches this. These are the versions of God. God only comes once, at this time, and explains to us. This is called spiritual knowledge. The knowledge of the scriptures is different from this knowledge. You know that one type of knowledge is that of worldly colleges etc., the second is the religious knowledge of the scriptures and the third is this spiritual knowledge. No matter how great those doctors of philosophy may be, they too only have things of the scriptures. This knowledge of yours is totally separate. Only the spiritual Father, who is the Father of all souls, teaches this spiritual knowledge. His praise is: The Ocean of Peace, Happiness, etc. The praise of Krishna is completely distinct from His. It is human beings who have virtues and defects, which people speak about. You know the accurate praise of the Father. Those people simply sing like parrots without understanding the meaning of the words. The Father advises you children how you can make progress. Continue to make effort and you will continue to become strong. Then, while you are working in your office, you will have that remembrance and awareness of God. There has been the awareness of Maya for half the cycle. The Father now sits here and explains these things to you accurately. Look at yourself and see what you were and what you have now become. Baba is once again making us into those deities. Only you children understand this, numberwise, according to the effort you make. At first, there was only Bharat. The Father only comes in Bharat to play His part. You belong to the original eternal deity religion. You have to become pure. Otherwise, you will come later. What happiness will you receive then? If you haven’t done that much devotion, you will not come. It would be understood that so-and-so is not going to take that much knowledge. You can understand this. A lot of effort is made, yet scarcely a few emerge. Nevertheless, you mustn’t become tired. You have to make effort. You cannot receive anything without making effort. Subjects continue to be created. Baba gives you a method to make progress. He says: Children, if you want to make progress, then, after bathing in the morning, go for a walk in solitude or sit down somewhere. Walking is good for your health. You will be able to remember Baba, and the secrets of the drama will remain in your intellects. There is so much income to earn. This is the true income. Once you have finished earning that income, think about earning this income. Nothing here is difficult. Baba has seen how some people write their life histories: “Today I woke up at this time, then I did this,”etc. They think that those who read that later will learn something from it. People read biographies of eminent people. They write for children so that they then also have a good nature. You children now have to make effort to become satopradhan. You have to claim your kingdom of the satopradhan world once again. You know that you claim your kingdom every cycle and then lose it. All of this is in your intellects. This is the new world; this is new knowledge for the new religion. Therefore, you sweetest children are told: Make effort quickly! There is no guarantee for your life. Nowadays, death is very easy. There won’t be such death in the land of immortality. Here, people die just while sitting down doing nothing. This is why you have to continue to make effort and accumulate in your account. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Adopt the habit of keeping your intellect busy in churning knowledge. Whenever you have time, go and sit in solitude and churn the ocean of knowledge. Remember the Father and accumulate your true income.
  2. Become far-sighted and understand this unlimited play accurately. Observe the parts of all actors as a detached observer.
Blessing: May you be an embodiment of awareness and so an embodiment of power and finish the game of dolls by becoming a master ocean of knowledge.
On the path of devotion, they make idols, worship them and then drown them, and you call that the worship of dolls. In the same way, lifeless situations of no essence, such as jealousy, imagination, force etc. come in front of you. You expand them and then you yourself experience them to be the truth and you make others too experience them to be the truth. So, that is like putting life into those situations. Then, by having the remembrance of the Father, the Ocean of Knowledge, you let the past be the past and you drown that with the waves of self-progress, but time’s wasted even in that. Therefore, become a master ocean of knowledge before hand and finish the games of dolls with the blessings of awareness and power.
Slogan: Those who are co-operative at a time of need receive multimillion-fold fruit of one.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 28 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

28-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – इस बेहद नाटक में तुम वन्डरफुल एक्टर हो, यह अनादि नाटक है, इसमें कुछ भी बदली नहीं हो सकता”
प्रश्नः- बुद्धिवान, दूरादेशी बच्चे ही किस गुह्य राज़ को समझ सकते हैं?
उत्तर:- मूलवतन से लेकर सारे ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त का जो गुह्य राज़ है, वह दूरादेशी बच्चे ही समझ सकते हैं, बीज और झाड़ का सारा ज्ञान उनकी बुद्धि में रहता है। वह जानते हैं – इस बेहद के नाटक में आत्मा रूपी एक्टर जो यह चोला पहनकर पार्ट बजा रही है, इसे सतयुग से लेकर कलियुग तक पार्ट बजाना है। कोई भी एक्टर बीच में वापिस जा नहीं सकता।
गीत:- तूने रात गँवाई……..

ओम् शान्ति। यह गीत बच्चों ने सुना। अब इसमें कोई अक्षर राइट भी हैं, तो रांग भी हैं। सुख में तो सिमरण किया नहीं जाता। दु:ख को भी आना है जरूर। दु:ख हो तब तो सुख देने के लिए बाप को आना पड़े। मीठे-मीठे बच्चों को मालूम है, अभी हम सुखधाम के लिए पढ़ रहे हैं। शान्तिधाम और सुखधाम। पहले मुक्ति फिर होती है जीवनमुक्ति। शान्तिधाम घर है, वहाँ कोई पार्ट नहीं बजाया जाता। एक्टर्स घर में चले जाते हैं, वहाँ कोई पार्ट नहीं बजाते। पार्ट स्टेज पर बजाया जाता है। यह भी स्टेज है। जैसे हद का नाटक होता है वैसे यह बेहद का नाटक है। इनके आदि-मध्य-अन्त का राज़ सिवाए बाप के कोई और समझा न सके। वास्तव में यह यात्रा अथवा युद्ध अक्षर सिर्फ समझाने में काम में लाते हैं। बाकी इसमें युद्ध आदि कुछ है नहीं। यात्रा भी अक्षर है। बाकी है तो याद। याद करते-करते पावन बन जायेंगे। यह यात्रा पूरी भी यहाँ ही होगी। कहाँ जाना नहीं है। बच्चों को समझाया जाता है पावन बनकर अपने घर जाना है। अपवित्र तो जा न सकें। अपने को आत्मा समझना है। मुझ आत्मा में सारे चक्र का पार्ट है। अभी वह पार्ट पूरा हुआ है। बाप राय देते हैं बहुत सहज, मुझे याद करो। बाकी बैठे तो यहाँ ही हो। कहाँ जाते नहीं हो। बाप आकर कहते हैं मुझे याद करो तो तुम पावन बन जायेंगे। युद्ध कोई है नहीं। अपने को तमोप्रधान से सतोप्रधान बनाना है। माया पर जीत पानी है। बच्चे जानते हैं 84 का चक्र पूरा होना है, भारत सतोप्रधान था। उसमें जरूर मनुष्य ही होंगे। जमीन थोड़ेही बदलेगी। अभी तुम जानते हो हम सतोप्रधान थे फिर तमोप्रधान बने अब फिर सतोप्रधान बनना है। मनुष्य पुकारते भी हैं कि आकर हमको पतित से पावन बनाओ। परन्तु वह कौन है, कैसे आते हैं, कुछ नहीं जानते। अभी बाबा ने तुम्हें समझदार बनाया है। कितना ऊंच मर्तबा तुम पाते हो। वहाँ के गरीब भी बहुत ऊंच हैं, यहाँ के साहूकारों से। भल कितने भी बड़े-बड़े राजायें थे, धन बहुत था परन्तु हैं तो विकारी ना। इनसे वहाँ की साधारण प्रजा भी बहुत ऊंच बनती है। बाबा फर्क बतलाते हैं। रावण का परछाया आने से पतित बन जाते हैं। निर्विकारी देवताओं के आगे अपने को पतित कह माथा जाकर टेकते हैं। बाप यहाँ आते हैं तो फट से ऊंच चढ़ा देते हैं। सेकण्ड की बात है। अभी बाप ने तीसरा नेत्र दिया है ज्ञान का। तुम बच्चे दूरादेशी बन जाते हो। ऊपर मूलवतन से लेकर सारे ड्रामा का चक्र तुम्हारी बुद्धि में याद है। जैसे हद का ड्रामा देखकर फिर आए सुनाते हैं ना – क्या-क्या देखा। बुद्धि में भरा हुआ है, जो वर्णन करते हैं। आत्मा में भरकर आते हैं फिर आकर डिलेवरी करते हैं। यह फिर हैं बेहद की बातें। तुम बच्चों की बुद्धि में इस बेहद ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त का राज़ रहना चाहिए। जो रिपीट होता रहता है। उस हद के नाटक में तो एक एक्टर निकल जाता है तो फिर बदले में दूसरा आ सकता है। कोई बीमार हुआ तो उनके बदले फिर दूसरा एड कर देंगे। यह तो चैतन्य ड्रामा है, इसमें ज़रा भी अदली-बदली नहीं हो सकती। तुम बच्चे जानते हो हम आत्मा हैं। यह शरीर रूपी चोला है, जो पहनकर हम बहुरूपी पार्ट बजाते हैं। नाम, रूप, देश, फीचर्स बदलते जाते हैं। एक्टर्स को अपनी एक्ट का तो मालूम होता है ना। बाप बच्चों को यह चक्र का राज़ तो समझाते रहते हैं। सतयुग से लेकर कलियुग तक आते हैं फिर जाते हैं फिर नये सिर आकर पार्ट बजाते हैं। इनकी डिटेल समझाने में टाइम लगता है। बीज में भल नॉलेज है फिर भी समझाने में टाइम तो लगता है ना। तुम्हारी बुद्धि में सारा बीज और झाड़ का राज़ है, सो भी जो अच्छे बुद्धिवान हैं, वही समझते हैं कि इसका बीज ऊपर में हैं। इनकी उत्पत्ति, पालना और संहार कैसे होता है, इसलिए त्रिमूर्ति भी दिखाया है। यह समझानी जो बाप देते हैं, और कोई भी मनुष्य दे न सके। जब यहाँ आये तब पता पड़े इसलिए तुम सबको कहते हो यहाँ आकर समझो। कोई-कोई बहुत कट्टर होते हैं तो कहते हैं हमको कुछ सुनना नहीं है। कोई तो फिर सुनते भी हैं, कोई लिटरेचर लेते हैं, कोई नहीं लेते हैं। तुम्हारी बुद्धि अभी कितनी विशाल, दूरादेशी हो गई है। तीनों लोकों को तुम जानते हो, मूलवतन जिसको निराकारी दुनिया कहा जाता है। बाकी सूक्ष्मवतन का कुछ भी है नहीं। कनेक्शन सारा है मूलवतन और स्थूलवतन से। बाकी सूक्ष्मवतन तो थोड़ा टाइम के लिए है। बाकी आत्मायें सब ऊपर से यहाँ आती हैं पार्ट बजाने। यह झाड़ सब धर्मों का नम्बरवार है। यह है मनुष्यों का झाड़ और बिल्कुल एक्यूरेट है। कुछ भी आगे-पीछे हो न सके। न आत्मायें और कोई जगह बैठ सकती हैं। आत्मायें ब्रह्म महतत्व में खड़ी होती हैं, जैसे स्टार्स आकाश में खड़े हैं। यह स्टार्स तो दूर से छोटे-छोटे देखने में आते हैं। हैं तो बड़े। लेकिन आत्मा तो न छोटी-बड़ी होती है, न विनाश को पाती है। तुम गोल्डन एज में जाते हो फिर आइरन एज में आते हो। बच्चे जानते हैं हम गोल्डन एज में थे, अब आइरन एज में आ गये हैं। कोई वैल्यु नहीं रही है। भल माया की चमक कितनी भी है परन्तु यह है रावण की गोल्डन एज, वह है ईश्वरीय गोल्डन एज।

मनुष्य कहते रहते हैं – 6-7 वर्षों में इतना अनाज होगा, जो बात मत पूछो। देखो, उन्हों का प्लैन क्या है और तुम बच्चों का प्लैन क्या है? बाप कहते हैं मेरा प्लैन है पुरानी को नया बनाना। तुम्हारा एक ही प्लैन है। जानते हो बाप की श्रीमत से हम अपना वर्सा ले रहे हैं। बाबा रास्ता बताते हैं, श्रीमत देते हैं, याद में रहने की मत देते हैं। मत अक्षर तो है ना। संस्कृत अक्षर तो बाप नहीं बोलते हैं। बाप तो हिन्दी में ही समझाते रहते हैं। भाषायें तो ढेर हैं ना। इन्टरप्रेटर भी होते हैं, जो सुनकर फिर सुनाते हैं। हिन्दी और इंगलिश तो बहुत जानते हैं। पढ़ते हैं। बाकी मातायें घर में रहने वाली इतना नहीं पढ़ती हैं। आजकल विलायत में अंग्रेजी सीखते हैं तो फिर यहाँ आने से भी इंगलिश बोलते रहते हैं। हिन्दी बोल ही नहीं सकते। घर में आते हैं तो माँ से इंगलिश में बात करने लग पड़ते हैं। वह बिचारी मूँझ पड़ती हैं हम क्या जानें इंगलिश से। फिर उनको टूटी-फूटी हिन्दी सीखनी पड़े। सतयुग में तो एक राज्य एक भाषा थी, जो अब फिर से स्थापन कर रहे हैं। हर 5 हज़ार वर्ष बाद यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है सो बुद्धि में रहना चाहिए। अब एक बाप की ही याद में रहना है। यहाँ तुमको फुर्सत अच्छी रहती है। सवेरे में स्नान आदि कर बाहर घूमने फिरने में बड़ा मज़ा आता है, अन्दर में यही याद रहे हम सब एक्टर्स हैं। यह भी अभी स्मृति आई है। बाबा ने हमको 84 के चक्र का राज़ बताया है। हम सतोप्रधान थे, यह बड़ी खुशी की बात है। मनुष्य घूमते-फिरते हैं, उनकी कुछ भी कमाई नहीं। तुम तो बहुत कमाई करते हो। बुद्धि में चक्र भी याद रहे फिर बाप को भी याद करते रहो। कमाई करने की युक्तियां बाबा बहुत अच्छी-अच्छी बताते हैं। जो बच्चे ज्ञान का विचार सागर मंथन नहीं करते हैं उनकी बुद्धि में माया खिट-खिट करती है। उन्हें ही माया तंग करती है। अन्दर में यह विचार करो हमने यह चक्र कैसे लगाया है। सतयुग में इतने जन्म लिए फिर नीचे उतरते आये। अब फिर सतोप्रधान बनना है। बाबा ने कहा है – मुझे याद करो तो सतोप्रधान बन जायेंगे। चलते-फिरते बुद्धि में याद रहे तो माया की खिट-खिट समाप्त हो जायेगी। तुम्हारा बहुत-बहुत फ़ायदा होगा। भल स्त्री-पुरूष साथ जाते हो। हर एक को अपनेसिर मेहनत करनी है, अपना ऊंच पद पाने। अकेले में जाने से तो बहुत ही मज़ा है। अपनी ही धुन में रहेंगे। दूसरा साथ में होगा तो भी बुद्धि इधर-उधर जायेगी। है बहुत सहज, बगीचे आदि तो सब जगह हैं, इन्जीनियर होगा तो उनका यही चिंतन चलता रहेगा कि यहाँ पुल बनानी है, यह करना है। बुद्धि में प्लैन आ जाता है। तुम भी घर में बैठो फिर भी बुद्धि उस तरफ लगी रहे। यह आदत रखो तो तुम्हारे अन्दर यही चिन्तन चलता रहे। पढ़ना भी है, धंधा आदि भी करना है। बूढ़े, जवान, बच्चों आदि सबको पावन बनना है। आत्मा को हक है, बाप से वर्सा लेने का। बच्चों को भी छोटेपन में ही यह बीज पड़ जाए तो बहुत अच्छा। आध्यात्मिक विद्या और कोई सिखा न सके।

तुम्हारी यह जो आध्यात्मिक विद्या है, यह तुमको बाप ही आकर पढ़ाते हैं। उन स्कूलों में मिलती है जिस्मानी विद्या। और वह है शास्त्रों की विद्या। यह फिर है रूहानी विद्या, जो तुमको भगवान सिखलाते हैं। इनका किसको भी पता नहीं। इनको कहा ही जाता है स्प्रीचुअल नॉलेज। जो रूह आकर पढ़ाते हैं, उनका और कोई नाम नहीं रखा जा सकता। यह तो स्वयं बाप आकर पढ़ाते हैं। भगवानुवाच है ना। भगवान एक ही बार इस समय आकर समझाते हैं, इसको रूहानी नॉलेज कहा जाता है। वह शास्त्रों की विद्या अलग है। तुमको पता है कि नॉलेज एक है जिस्मानी कॉलेज आदि की, दूसरी है आध्यात्मिक शास्त्रों की विद्या, तीसरी है यह रूहानी नॉलेज। वह भल कितने भी बड़े-बड़े डॉक्टर ऑफ फिलॉसॉफी हैं, परन्तु उन्हों के पास भी शास्त्रों की बातें हैं। तुम्हारी यह नॉलेज बिल्कुल अलग है। यह स्प्रीचुअल नॉलेज जो स्प्रीचुअल फादर सभी आत्माओं का बाप है, वही पढ़ाते हैं। उनकी महिमा है शान्ति, सुख का सागर……। कृष्ण की महिमा बिल्कुल अलग है, गुण-अवगुण मनुष्य में होते हैं, जो बोलते रहते हैं। बाप की महिमा को भी यथार्थ रीति तुम जानते हो। वह तो सिर्फ तोते मुआफिक गाते हैं, अर्थ कुछ नहीं जानते। तो बच्चों को बाबा राय देते हैं अपनी उन्नति कैसे करो। पुरूषार्थ करते रहेंगे तो फिर पक्का होता जायेगा फिर ऑफिस में काम करने समय भी यह स्मृति आयेगी, ईश्वर की स्मृति रहेगी। माया की स्मृति तो आधाकल्प चली है, अभी बाप यथार्थ रीति बैठ समझाते हैं। अपने को देखो – हम क्या थे, अब क्या बन गये हैं! फिर हमको बाबा ऐसा देवता बनाते हैं। यह भी तुम बच्चे ही नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जानते हो। पहले-पहले भारत ही था। भारत में ही बाप भी आते हैं पार्ट बजाने। तुम भी आदि सनातन देवी-देवता धर्म के हो ना। तुमको पवित्र बनना है, नहीं तो पिछाड़ी में आयेंगे, फिर क्या सुख पायेंगे। भक्ति जास्ती नहीं की होगी तो आयेंगे नहीं। समझ जायेंगे यह इतना उठाने वाला नहीं है। समझ तो सकते हैं ना। बहुत मेहनत करते हैं फिर भी कोई बिरले निकलते हैं लेकिन थकना नहीं है। मेहनत तो करनी है। मेहनत बिगर कुछ मिलता थोड़ेही है। प्रजा तो बनती रहती है।

बाबा बच्चों को उन्नति के लिए युक्ति बताते हैं – बच्चे, अपनी उन्नति करनी है तो सवेरे-सवेरे स्नान आदि कर एकान्त में जाकर चक्र लगाओ वा बैठ जाओ। तन्दुरूस्ती के लिए पैदल करना भी अच्छा है। बाबा भी याद पड़ेगा और ड्रामा का राज़ भी बुद्धि में रहेगा, कितनी कमाई है। यह है सच्ची कमाई, वह कमाई पूरी हुई फिर इस कमाई का चिंतन करो। डिफीकल्ट कुछ भी नहीं है। बाबा का देखा हुआ है सारी जीवन कहानी लिखते हैं – आज इतने बजे उठा, फिर यह किया…… समझते हैं पिछाड़ी वाले पढ़कर सीखेंगे। बड़े-बड़े मनुष्यों की बायोग्राफी पढ़ते हैं ना। बच्चों के लिए लिखते हैं फिर बच्चे भी घर में ऐसे अच्छे स्वभाव के होते हैं। अभी तुम बच्चों को पुरूषार्थ कर सतोप्रधान बनना है। सतोप्रधान दुनिया का फिर से राज्य लेना है। तुम जानते हो कल्प-कल्प हम राज्य लेते हैं और फिर गँवाते हैं। तुम्हारी बुद्धि में यह सब है। यह है नई दुनिया, नये धर्म के लिए नई नॉलेज, इसलिए मीठे-मीठे बच्चों को फिर भी समझाते हैं – जल्दी-जल्दी पुरूषार्थ करो। शरीर पर भरोसा थोड़ेही है। आजकल मौत बहुत इज़ी हो गया है। वहाँ अमरलोक में ऐसी मृत्यु कब होती नहीं, यहाँ तो बैठे-बैठे कैसे मर जाते हैं इसलिए अपना पुरूषार्थ करते रहो। जमा करते रहो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि को ज्ञान चिन्तन में बिजी रखने की आदत डालनी है। जब भी समय मिले एकान्त में जाकर विचार सागर मंथन करना है। बाप को याद कर सच्ची कमाई जमा करनी है।

2) दूरादेशी बनकर इस बेहद के नाटक को यथार्थ रीति समझना है। सभी पार्टधारियों के पार्ट को साक्षी होकर देखना है।

वरदान:- मास्टर ज्ञान सागर बन गुड़ियों का खेल समाप्त करने वाले स्मृति सो समर्थ स्वरूप भव
जैसे भक्ति मार्ग में मूर्ति बनाकर पूजा आदि करते हैं, फिर उन्हें डुबो देते हैं तो आप उसे गुड़ियों की पूजा कहते हो। ऐसे आपके सामने भी जब कोई निर्जीव, असार बातें ईर्ष्या, अनुमान, आवेश आदि की आती हैं और आप उनका विस्तार कर अनुभव करते या कराते हो कि यही सत्य हैं, तो यह भी जैसे उनमें प्राण भर देते हो। फिर उन्हें ज्ञान सागर बाप की याद से, बीती सो बीती कर, स्वउन्नति की लहरों में डुबोते भी हो लेकिन इसमें भी टाइम तो वेस्ट जाता है ना, इसलिए पहले से ही मास्टर ज्ञान सागर बन स्मृति सो समर्थी भव के वरदान से इन गुड़ियों के खेल को समाप्त करो।
स्लोगन:- जो समय पर सहयोगी बनते हैं उन्हें एक का पदमगुणा फल मिल जाता है।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 28 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 July 2019

To Read Murli 27 July 2019 :- Click Here
28-07-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”मातेश्वरी”
रिवाइज: 07-01-85 मधुबन

नये वर्ष का विशेष संकल्प – “मास्टर विधाता बनोˮ

आज विधाता बाप अपने मास्टर विधाता बच्चों से मिलने आये हैं। विधाता बाप हर बच्चे के चार्ट को देख रहे हैं। विधाता द्वारा मिले हुए खजानों में से कहाँ तक विधाता समान मास्टर विधाता बने हैं? ज्ञान के विधाता हैं? याद के शक्तियों के विधाता हैं? समय प्रमाण, आवश्यकता प्रमाण हर शक्ति के विधाता बने हैं? गुणों के विधाता बने हैं? रूहानी दृष्टि, रूहानी स्नेह के विधाता बने हैं? समय प्रमाण हर एक आत्मा को सहयोग के विधाता बने हैं? निर्बल को अपने श्रेष्ठ संग के विधाता, सम्पर्क के विधाता बने हैं? अप्राप्त आत्माओं को तृप्त आत्मा बनाने के उमंग उत्साह के विधाता बने हैं? यह चार्ट हर मास्टर विधाता का देख रहे थे।

विधाता अर्थात् हर समय, हर संकल्प द्वारा देने वाले। विधाता अर्थात् फ्राखदिल। सागर समान देने में बड़ी दिल वाले। विधाता अर्थात् सिवाए बाप के और किसी आत्मा से लेने की भावना रखने वाले नहीं। सदा देने वाले। अगर कोई रूहानी स्नेह, सहयोग देते भी हैं तो एक के बदले में पदमगुणा देने वाले। जैसे बाप लेते नहीं, देते हैं। अगर कोई बच्चा अपना पुराना कखपन देता भी है, उसके बदले में इतना देता है जो लेना, देना में बदल जाता है। ऐसे मास्टर विधाता अर्थात् हर संकल्प, हर कदम में देने वाला। महान दाता अर्थात् विधाता। सदा देने वाला होने कारण सदा नि:स्वार्थी होंगे। स्व के स्वार्थ से सदा न्यारे और बाप समान सर्व के प्यारे होंगे। विधाता आत्मा के प्रति स्वत: ही सर्व का रिगार्ड का रिकार्ड होगा। विधाता स्वत: ही सर्व की नज़र में दाता अर्थात् महान होंगे। ऐसे विधाता कहाँ तक बने हैं? विधाता अर्थात् राजवंशी। विधाता अर्थात् पालनहार। बाप समान सदा स्नेह और सहयोग की पालना देने वाले। विधाता अर्थात् सदा सम्पन्न। तो अपने आपको चेक करो कि लेने वाले हो वा देने वाले मास्टर विधाता हो?

अब समय प्रमाण मास्टर विधाता का पार्ट बजाना है क्योंकि समय की समीपता है अर्थात् बाप समान बनना है। अब तक भी अपने प्रति लेने की भावना वाले होंगे तो विधाता कब बनेंगे? अभी देना ही लेना है, जितना देंगे उतना स्वत: ही बढ़ता जायेगा। किसी भी प्रकार के हद की बातों के लेवता नहीं बनो। अभी तक अपने हद की आशायें पूर्ण करने की इच्छा होगी तो विश्व की सर्व आत्माओं की आशायें कैसे पूर्ण करेंगे। थोड़ा-सा नाम चाहिए, मान चाहिए, रिगार्ड चाहिए, स्नेह चाहिए, शक्ति चाहिए। अब तक स्वार्थी अर्थात् स्व के अर्थ यह इच्छायें रखने वाले होंगे तो इच्छा मात्रम् अविद्या की स्थिति का अनुभव कब करेंगे? यह हद की इच्छायें कभी भी अच्छा बनने नहीं देंगी। यह इच्छा भी रॉयल भिखारीपन का अंश है। अधिकारी के पीछे यह सब बातें स्वत: ही आगे आती हैं। चाहिए-चाहिए का गीत नहीं गाते। मिल गया, बन गया, यही गीत गाते हैं। बेहद के विधाता के लिए यह हद की आशायें वा इच्छायें स्वयं ही परछाई के समान पीछे-पीछे चलती हैं। जब गीत गाते हो पाना था वह पा लिया फिर यह हद के नाम, मान, शान, पाने का कैसे रह जाता है? नहीं तो गीत को बदली करो। जब 5 तत्व भी आप विधाता के आगे दासी बन जाते हैं, प्रकृति जीत मायाजीत बन जाते हो, उसके आगे यह हद की इच्छायें ऐसी हैं जैसे सूर्य के आगे दीपक। जब सूर्य बन गये तो इन दीपकों की क्या आवश्यकता है? चाहिए की तृप्ति का आधार है, जो चाहिए वह ज्यादा से ज्यादा देते जाओ। मान दो, लो नहीं। रिगार्ड दो, रिगार्ड लो नहीं। नाम चाहिए तो बाप के नाम का दान दो। तो आपका नाम स्वत: ही हो जायेगा। देना ही लेने का आधार है। जैसे भक्ति मार्ग में भी यह रसम चली आई है, कोई भी चीज़ की कमी होगी तो प्राप्ति के लिए उसी चीज़ का दान कराते हैं। तो वह देना लेना हो जायेगा। ऐसे आप भी दाता के बच्चे देने वाले देवता बनने वाले हो। आप सबकी महिमा देने वाले देवा, शान्ति देवा, सम्पत्ति देवा कहा करते हैं। लेवा कहकर महिमा नहीं करते हैं। तो आज यह चार्ट देख रहे थे। देवता बनने वाले कितने हैं और लेवता (लेने वाले) कितने हैं। लौकिक आशायें, इच्छायें तो समाप्त हो गई। अब अलौकिक जीवन की बेहद की इच्छायें समझते हैं कि यह तो ज्ञान की हैं ना। यह तो होनी चाहिए ना। लेकिन कोई भी हद की चाहना वाला माया का सामना नहीं कर सकता है। मांगने से मिलने वाली यह चीज़ ही नहीं है। कोई को कहो मुझे रिगार्ड दो या रिगार्ड दिलाओ। मांगने से मिले यह रास्ता ही रांग है, तो मंजिल कहाँ से मिलेगी इसलिए मास्टर विधाता बनो। तो स्वत: ही सब आपको देने आयेंगे। शान मांगने वाले परेशान होते हैं इसलिए मास्टर विधाता की शान में रहो। मेरा-मेरा नहीं करो। सब तेरा-तेरा। आप तेरा करेंगे तो सब कहेंगे तेरा-तेरा। मेरा-मेरा कहने से जो आता है वह भी गंवा देंगे क्योंकि जहाँ सन्तुष्टता नहीं वहाँ प्राप्ति भी अप्राप्ति के समान हैं। जहाँ सन्तुष्टता है वहाँ थोड़ा भी सर्व समान हैं। तो तेरा-तेरा कहने से प्राप्ति स्वरूप बन जायेंगे। जैसे यहाँ गुम्बद के अन्दर आवाज करते हो तो वही आवाज वापस आता है। ऐसे इस बेहद के गुम्बद के अन्दर अगर आप मन से मेरा कहते हो तो सबकी तरफ से वही ‘मेरा’ का ही आवाज़ सुनते हो!

आप भी कहेंगे मेरा, वह भी कहेगा मेरा इसलिए जितना मन के स्नेह से (मतलब से नहीं) तेरा कहेंगे उतना ही मन के स्नेह से आगे वाले आपको तेरा कहेंगे। इस विधि से मेरे-मेरे की हद बेहद में परिवर्तन हो जायेगी। और लेवता के बजाए मास्टर विधाता बन जायेंगे। तो इस वर्ष यह विशेष संकल्प करो कि सदा मास्टर विधाता बनेंगे। समझा।

महाराष्ट्र जोन आया है, तो महान बनना है ना। महाराष्ट्र अर्थात् सदा महान बन सर्व को देने वाले बनना। महाराष्ट्र अर्थात् सदा सम्पन्न राष्ट्र। देश सम्पन्न हो न हो लेकिन आप महान आत्मायें तो सम्पन्न हो इसलिए महाराष्ट्र अर्थात् महादानी आत्मायें।

दूसरे यू.पी. के हैं। यू.पी. में भी पतित-पावनी गंगा का महत्व है। तो सदा प्राप्ति स्वरूप हैं, तब पतित-पावनी बन सकते हैं। तो यू.पी. वाले भी पावनता के भण्डार हैं। सदा सर्व के प्रति पावनता की अंचली देने वाले मास्टर विधाता हैं। तो दोनों ही महान हुए ना। बापदादा भी सर्व महान आत्माओं को देख हर्षित होते हैं।

डबल विदेशी तो हैं ही डबल नशे मे रहने वाले। एक याद का नशा, दूसरा सेवा का नशा मैजारिटी इस डबल नशे में सदा रहने वाले हैं। और यह डबल नशा ही अनेक नशों से बचाने वाला है। तो डबल विदेशी बच्चे भी दोनों ही बातों की रेस में नम्बर अच्छा ले रहे हैं। बाबा और सेवा के गीत स्वप्न में भी गाते रहते हैं। तो तीनों नदियों का संगम है। गंगा, जमुना, सरस्वती तीनों हो गये ना। सच्चा अल्लाह का आबाद किया हुआ स्थान तो यही मधुबन है ना। इसी अल्लाह के आबाद किये हुए स्थान पर तीनों नदियों का संगम है। अच्छा!

सभी सदा मास्टर विधाता, सदा सर्व को देने की भावना में रहने वाले, देवता बनने वाले, सदा तेरा-तेरा का गीत गाने वाले, सदा अप्राप्त आत्माओं को तृप्त करने वाले, सम्पन्न आत्माओं को विधाता वरदाता बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

टीचर्स के साथ मुलाकात – सेवाधारी सेवा करने से स्वयं भी शक्तिशाली बनते हैं और दूसरों में भी शक्ति भरने के निमित्त बनते हैं। सच्ची रूहानी सेवा सदा स्व उन्नति और औरों की उन्नति के निमित्त बनाती है। दूसरे की सेवा करने से पहले अपनी सेवा करनी होती है। दूसरे को सुनाना अर्थात् पहले खुद सुनते, पहले अपने कानों में जायेगा ना। सुनाना नहीं होता, सुनना होता है। तो सेवा से डबल फायदा होता है। अपने को भी और दूसरों को भी। सेवा में बिजी रहना अर्थात् सहज मायाजीत बनना। बिजी नहीं रहते तब माया आती है। सेवाधारी अर्थात् बिजी रहने वाले। सेवाधारियों को कभी फुर्सत ही नहीं होती। जब फुर्सत ही नहीं तो माया कैसे आयेगी। सेवाधारी बनना अर्थात् सहज विजयी बनना। सेवाधारी माला में सहज आ सकते हैं क्योंकि सहज विजयी हैं। तो विजयी विजय माला में आयेंगे। सेवाधारी का अर्थ है ताजा मेवा खाने वाले। ताजा फल खाने वाले बहुत हेल्दी होंगे। डाक्टर भी कहते हैं ताजा फल ताजी सब्जियाँ खाओ। तो सेवा करना माना विटामिन्स मिलना। ऐसे सेवाधारी हो ना। कितना महत्व है सेवा का। अभी इसी बातों को चेक करना। ऐसी सेवा की अनुभूति हो रही है। कितनी भी कोई उलझन में हो – सेवा खुशी में नचाने वाली है। कितना भी कोई बीमार हो सेवा तन्दरूस्त करने वाली है। ऐसे नहीं सेवा करते-करते बीमार हो गये। नहीं। बीमार को तन्दरूस्त बनाने वाली सेवा है। ऐसे अनुभव हो। ऐसे विशेष सेवाधारी विशेष आत्मायें हो। बापदादा सेवाधारियों को सदा श्रेष्ठ सम्बन्ध से देखते हैं क्योंकि सेवा के लिए त्यागी तपस्वी तो बने हैं ना। त्याग और तपस्या को देख बापदादा सदा खुश है।

2. सभी सेवाधारी अर्थात् सदा सेवा के निमित्त बनी हुई आत्मायें। सदा अपने को निमित्त समझ सेवा में आगे बढ़ते रहो। मैं सेवाधारी हूँ, यह मैं-पन तो नहीं आता है ना। बाप करावनहार है, मैं निमित्त हूँ। कराने वाला करा रहा है। चलाने वाला चला रहा है – इस श्रेष्ठ भावना से सदा न्यारे और प्यारे रहेंगे। अगर मैं करने वाली हूँ तो न्यारे और प्यारे नहीं। तो सदा न्यारे और सदा प्यारे बनने का सहज साधन है करावनहार करा रहा है, इस स्मृति में रहना इससे सफलता भी ज्यादा और सेवा भी सहज। मेहनत नहीं लगती। कभी मैं-पन के चक्र में आने वाली नहीं। हर बात में बाबा-बाबा कहा तो सफलता है। ऐसे सेवाधारी सदा आगे बढ़ते भी हैं। और औरों को भी आगे बढ़ाते हैं। नहीं तो स्वयं भी कभी उड़ती कला, कभी चढ़ती कला, कभी चलती कला। बदलते रहेंगे और दूसरे को भी शक्तिशाली नहीं बना सकेंगे। सदा बाबा-बाबा कहने वाले भी नहीं लेकिन करके दिखाने वाले। ऐसे सेवाधारी सदा बापदादा के समीप हैं। सदा विघ्न-विनाशक हैं। अच्छा।

वरदान:- हिम्मत और उमंग-उत्साह के पंखों से उड़ती कला में उड़ने वाले तीव्र पुरुषार्थी भव 
उड़ती कला के दो पंख हैं – हिम्मत और उमंग-उत्साह। किसी भी कार्य में सफलता प्राप्त करने के लिए हिम्मत और उमंग-उत्साह बहुत जरूरी है। जहाँ उमंग-उत्साह नहीं होता वहाँ थकावट होती है और थका हुआ कभी सफल नहीं होता। वर्तमान समय के अनुसार उड़ती कला के सिवाए मंजिल पर पहुंच नहीं सकते क्योंकि पुरुषार्थ एक जन्म का और प्राप्ति 21 जन्म के लिए ही नहीं सारे कल्प की है। तो जब समय की पहचान स्मृति में रहती है तो पुरुषार्थ स्वत: तीव्रगति का हो जाता है।
स्लोगन:- सर्व की मनोकामनायें पूर्ण करने वाले ही कामधेनु हैं।

TODAY MURLI 28 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 28 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 July 2019:- Click Here

28/07/19
Madhuban
Mateshwari
Om Shanti
07/01/85

Special thought for the New Year – Become a master bestower of fortune.

Today, the Father, the Bestower of Fortune, has come to meet His children who are master bestowers of fortune. The Father, the Bestower of Fortune, is looking at the chart of every child. With all the treasures you have received from the Bestower of Fortune, to what extent has each of you become a masterbestower of fortune, the same as the Bestower of Fortune? Have you become bestowers of knowledge? Have you become bestowers of the power of remembrance? According to the time and the need, have you become bestowers of all the powers? Have you become bestowers of virtues? Have you become bestowers of spiritual vision and spiritual love? According to the time, have you become bestowers of co-operation to every soul? Have you become bestowers of your elevated company and connection to those who are weak? Have you become bestowers of zeal and enthusiasm to make souls who lack in attainment into fully contented souls? Baba was looking at this chart of every master bestower of fortune.

A bestower of fortune means someone who gives at every moment through every thought. A bestower of fortune means someone who is generous-hearted and, when it comes to giving, has a heart as big as an ocean. A bestower of fortune means someone who has no desire to take from any soul other than the Father – one who constantly gives. If someone gives spiritual love and co-operation, then, in return for one, he would give multi-millionfold, just as the Father doesn’t take, but gives. If a child gives everything old worth straws that he has to the Bestower, the Bestower gives so much in return that the receiving changes into giving. Such master bestowers of fortune are those who give in every thought and at every step. A great bestower means a bestower of fortune. Because of constantly giving, they would be constantly altruistic. They would be beyond any selfish motive and be loving to everyone, the same as the Father. Everyone would automatically have a record of giving regard to a bestower of fortune. A bestower of fortune would automatically be a bestower in everyone’s eyes, that is, such a soul would be great. To what extent has each one of you become such a bestower of fortune? A bestower of fortune means someone who is part of the royal clan. A bestower means someone who is a sustainer, one who constantly gives the sustenance of love and co-operation, the same as the Father. A bestower of fortune means someone who is always full. So, check yourself: Are you one who takes or a master bestower of fortune who gives?

Now, according to the time, you have to play the part of being a master bestower of fortune, because time is coming closer, that is, you have to become equal to the Father. If, even now, you want to take for yourself, then would you become a bestower? To give now is to receive; to the extent that you give, it will accordingly automatically continue to increase to that extent. Don’t become a taker of any type of limited things. If, even now, you desire to fulfil your limited hopes, how would you fulfil the hopes of all souls of the world? “I want a little name (glorification), a little respect, regard, love and power.” If, even now, you have these selfish motives, that is, if you have these desires for yourself, when would you experience the stage of being completely ignorant of the knowledge of desires? Those limited desires will never allow you to become good. Those desires are a sign of being a royal beggar. All of these things automatically come to someone who has a right. They don’t sing songs of “I want, I want (chahiye, chahiye)”. They sing the songs: I have received it. I have become this. For unlimited bestowers, limited hopes and desires stay behind them like a shadow. Since you sing the song that you have attained what you wanted, how is it that there still remains a desire to attain limited name, respect, honour and prestige? In other words, change the song! When even the five elements become a servant in front of you bestowers of fortune, when you become conquerors of matter and also of Maya, those limited desires are then like a lamp for you in front of the sun. When you have become the sun, what need is there for lamps? The basis of fulfilling the need for whatever you want is to continue to give the maximum of that particular thing. Give respect, don’t take it. Give regard, don’t just take regard. If you want your name glorified, give the donation of the Father’s name and your name will automatically be glorified. Giving is the basis of receiving. There is a system that has continued on the path of devotion: when someone lacks something they make that person donate that particular thing in order to attain more of it. Giving then becomes a form of receiving. In the same way, you children of the Bestower are going to become deities who give. People continue to sing praise of all of you as the deities who bestow, the bestowers of peace, the bestowers of wealth. They don’t sing your praise as those who are takers. So, today, Baba was looking at this chart. How many are going to become deities (givers) and how many are going to become takers? Worldly hopes and desires have ended. Now, in terms of the unlimited desires of spiritual life, you consider them to be desires of knowledge, do you not? And that you should have these, should you not? However, anyone who has a limited desire will not be able to confront Maya. This is not something you receive by asking for it, where you tell someone to give you regard or make others give you regard. When you receive something by asking for it, that is the wrong path. Therefore, how could you find your destination? So, become master bestowers of fortune. Then, everyone will automatically come to give to you. Those who ask for honour (shaan) become distressed (par-e-shaan). Therefore, maintain the honour of being a master bestower. Don’t say, “Mine, mine!” Everything is Yours. When you say, “It is Yours”, everyone will say to you, “It is yours”. When you say, “Mine, mine”, you will even lose whatever comes to you because where there isn’t contentment, even attainment is the same as a lack of attainment. Where there is contentment, even a little is equal to everything. Therefore, by saying, “Yours, Yours”, you will become an embodiment of attainment. When you make a sound in a dome, the same sound echoes back to you. Similarly, in this unlimited dome, if you say “Mine” from your heart then the same sound of “mine” will come back to you from everyone. You will say, “mine” and they will say, “mine”. Therefore, however much you say with love from your heart that it is Yours (not just for your own purpose), accordingly, everyone will say, “yours” to the one who says it with love from the heart. By using this method, your limited “mine” will change into the unlimited, and, instead of being those who take, you will become master bestowers of fortune. So, this year, have the special thought of constantly being a master bestower of fortune. Do you understand?

Maharashtra zone has come today, and so you have to become great (mahaan), do you not? Maharashtra means to be constantly great and become those who bestow to everyone. Maharashtra means the land that is always full. The land may not be full, but you great souls are full. Therefore, Maharashtra means great donor souls.

The other group is from UP. In UP too, they give importance to the Ganges, the Purifier. So, you are always embodiments of attainment and this is why you can become purifiers. So those from UP are also treasure stores of purity. You are master bestowers of fortune who give everyone a drop of purity. So both of you are great, are you not? BapDada is also pleased to see all the great souls.

Double foreigners are those who remain in double intoxication. One is the intoxication of remembrance and the other is the intoxication of service. The majority of you is of those who always have this double intoxication. This double intoxication will save you from all other types of intoxication. So the doubleforeigners are claiming a good number in the race of both of these. You also continue to sing songs of Baba and service even in your dreams. So, this is the confluence of the three rivers. You are the Ganges, the Jamuna and the Saraswati. Madhuban is the true place that has become fruitful (abad) by Allah (Allahabad – City in UP, India). This is the confluence of the three rivers on the land that has been made fruitful by Allah. Achcha.

To all those who are constantly master bestowers of fortune, to those who constantly desire to give to everyone, the ones who are going to become deities, to those who constantly sing the song, “Yours, Yours”, to those who constantly make souls who lack something become full and satisfied, to the full and complete souls, love, remembrance and namaste from BapDada, the Bestower of Fortune and the Bestower of Blessings.

BapDada meeting the teachers:

By serving, the servers become powerful themselves and also become instruments for filling others with power. True spiritual service always makes you instrumental for your own progress and the progress of others. Before serving others, you first have to serve yourself. To speak knowledge to others means that you hear it first, because it would enter your ears first. You don’t have to speak knowledge to others but you have to listen to it first. So, you have doublebenefit by doing service: you benefit and others also benefit. To be busy in service means to become a conqueror of Maya easily. Maya comes when you are not busy. Servers means to be busy. Servers never have any time. When you don’t have any time, how can Maya come? To be a server means to be easily victorious. Servers can easily enter the rosary because they are easily victorious. So, victorious souls will enter the rosary of victory. Servers means those who eat fresh nourishing food. Those who eat fresh fruit remain healthyDoctors always say, “Eat fresh fruit and vegetables.” Therefore, to serve means to take vitamins. You are such servers, are you not? Service has so much importance. Now, check these things. Are you experiencing such service? No matter how much confusion some may have, service makes them dance in happiness. No matter how ill someone may be, service will make that one healthy. Let it not be that you became ill from doing service – no. Service makes ill people healthy. Let there be such an experience. You are such special servers, such special souls. BapDada always looks at the servers with an elevated relationship, because you have become renunciates and tapaswis in order to serve. Seeing your renunciation and tapasya, BapDada is always pleased.

All servers are souls who have become instruments for constant service. Always consider yourself to be an instrument and continue to move forward in service. Check that you don’t have any consciousness of “mine”, that “I am a server”. The Father is Karavanhar and I am an instrument. The One inspiring is making me do it, the One making me move along is making me move. When you have this elevated feeling you will always remain detached and loving. If I am the one who is doing everything, I cannot be detached and loving. Therefore, the easy way to be constantly detached and loving is: Karavanhar is making me do everything. Maintain this awareness and there will then be greater success and service will be done easily; there won’t be any effort. You are not those who enter into the web of the consciousness of “I”. If you say, “Baba, Baba,” in everything, there is success. Such servers always move forward and also make others move forward. Otherwise, you yourself are sometimes in the flying stage, sometimes the ascending stage and sometimes the walking stage. You will continue to fluctuate and you won’t be able to make others powerful. You are not those who always just say, “Baba, Baba”, but those who actually put it into practice. Such servers are always close to BapDada and are always destroyers of obstacles. Achcha.

Blessing: May you be an intense effort-maker who flies in the flying stage with the wings of courage, zeal and enthusiasm.
The two wings for the flying stage are courage and zeal and enthusiasm. To achieve success in any task, it is very necessary to have courage and zeal and enthusiasm. Where there isn’t any zeal and enthusiasm there is tiredness and those who are tired cannot be successful. According to the present time, you will not be able to reach your destination unless you have the flying stage because the effort that has to be made is in just this one birth whereas the attainment is not just for 21 births, but for the whole cycle. So, when you have the recognition of time in your awareness, your efforts will automatically become intense.
Slogan: Only those who fulfil everyone’s desires are Kaamdhenu (the cow that fulfils everyone’s desires).

 

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 28 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 July 2018 :- Click Here

28/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only by remembering the Father accurately will your sins be absolved. The soul will become pure from impure. The number one subject is remembrance.
Question: What request do human beings make and how does the Father fulfil that request?
Answer: Peoplemake a request to the Father: O God, the Father, liberate us from committing sin! O merciful Baba, have mercy on us! Having heard everyone’s request, Baba Himself comes and shows everyone the way to become liberated from committing sin. He says: Children, remember Me. There is no benefit in simply singing the Father’s praise. You don’t need to praise His divine activity; you have to study Raja Yoga and become those whose characters are divine.
Song: The Lord of Innocence is unique. 

Om shanti. Whose praise did you hear? The One who reforms that which has been spoilt. He is the highest-on-high One who speaks the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. Whenever someone comes here to understand, the first thing to explain is: God is praised as the Highest on High. His name is the highest; His place of residence is the highest. It is mentioned in the Granth too that the name of God is the highest and that His abode is also the highest. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the One who resides in the highest place. That is the incorporeal world, where the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, resides. Then, below that are the subtle and corporeal worlds. So, first of all, give His introduction. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Truth. He is the Creator, and then comes His creation. There is the Highest on High, the Seed. Then, below Him, there are Brahma, Vishnu and Shankar, the residents of the subtle region. They are the creation and the Creator is above everyone. That Creator is the Father; all the rest are His creation. All are children of the one Supreme Father, the Supreme Soul. Therefore, all of us souls are brothers. The Supreme Father resides in the supreme abode (Paramdham). He is called the Supreme Soul. There are many physical fathers. First of all, give the introduction of the spiritual Father. All are His creation. You also have to draw their attention to the pictures. First there is the highest-on-high, Supreme Father, the Supreme Soul, the One known as the living Seed of the human world tree. He is the Truth, the Living Being and the Embodiment of Bliss. He is the Truth, that is, the One who speaks the truth. Souls too are true; they don’t burn or die. The children of the Truth must also be true. You were true deities to begin with. The true Baba is the One who established the land of truth. It is not that the Supreme Father, the Supreme Soul, establishes the land of falsehood; no. Bharat was the land of truth and it then became the land of falsehood. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Truth. The one who makes everyone impure cannot be called the truth. All the rest are false. Maya, Ravan, the five vices, makes souls false. Rama is Truth and Ravan is false. It is Ravan that makes Bharat false. The whole story is based on Bharat. You have to explain that Bharat was heaven and that it has now become hell. The Father is called the Creator of heaven, the One who brings about heaven. It is Bharat that is praised. He tells you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world through which you become knowers of the three aspects of time. This is known as the cycle of self-realisation. You souls understand that you are once again claiming your inheritance from the Supreme Father, the Supreme Soul. It has also been remembered that souls and the Supreme Soul were separated for a long period of time. That meeting now is very beautiful and auspicious. First of all, give the Father’s introduction. Saying that the Father, the Creator, is omnipresent doesn’t prove that we are all children. The children wouldn’t say that they are all the Supreme Father, the Supreme Soul. With the idea of omnipresence, they can neither have love for the Father nor can their intellects have yoga with Him. The ancient yoga of Bharat is famous. In fact, the intellect has to be linked in yoga to the Father. If He were omnipresent, then with whom would you have yoga? Would you have yoga with yourself? There is no meaning in that. Here, you understand the meaning of everything. The Father Himself tells you: By having yoga with Me, your sins will be absolved. Sinful actions continue to take place. You will reach your complete karmateet stage at the end. The results will be given when the time of knowledge has ended. In schools , too, some may be clever in one subject and others in another subject. The subject of remembrance is easy. The Father is remembered. By remembering the Father, the soul becomes good; the vessel becomes clean. Souls that have become impure continue to become pure. The highest-on-high Father comes and teaches you souls to enable you to claim the highest-on-high status. You change from humans into deities. You understand that the eternal, original deity religion definitely did exist. They should not be called Hindus. The name ‘Hindu religion’ doesn’t seem suitable. They have changed the name of Bharat to Hindustan. When it was the pure, original, eternal deity religion, it was called Paradise, that is, heaven. That is the golden age and it is called the new world. The Father is the One who creates it; He is incorporeal. Everyone says: O God , the Father! He resides in the highest place. Brahma, Vishnu and Shankar have subtle bodies. That is called the subtle region and the other is the land of peace, the world of silence. This is the physical world. Therefore, first of all, whenever anyone comes, get them to fill in a form: Who is the Father of souls? Only God can be called the Highest on High. Sages and holy men etc. all pray. Praying can also be called making requestsO God , the Father, we request You to incinerate our sins! O merciful Baba, have mercy! They call out in this way. Not everyone has mercy. It is only the one Father who has mercy for all. They call themselves Sarvodaya (one who has mercy for all). Now, what do they do? How many do they have mercy for? That too is fixed in the drama. You can compare that with all the things that are happening now. These aspects are not mentioned in the Gita or Bhagawad. The Gita has knowledge. However, there is no need for stories of anyone’s activity, etc. Do students sing the praise of their teacher’s activities?There is no benefit in sitting and singing the teacher’s praise. You do not receive anything by simply singing the praise of the Father, that He is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Happiness. You children now understand that Baba teaches you Raja Yoga and makes you into knowers of the three aspects of time, that is, He gives you the knowledge of the three aspects of time and the three worlds. Therefore, you are called master lords of the three worlds. You are also called knowers of the three aspects of time. We definitely become the lords who know the three worlds. This is Raja Yoga. We are becoming emperors. The Father is the one who makes us that. It is said: Lord of divinity. Lakshmi and Narayan are that. Even though there are temples to Lakshmi and Narayan, people do not know who they are. Lakshmi and Narayan are called the masters of the land of divinity. The golden age is called the land of divinity. You understand that Krishna definitely had palaces of diamonds and jewels; he was the lord of divinity. Therefore, first of all, ask them: Do you accept that the Father is the Creator of all? That He is also the Creator of Brahma, Vishnu and Shankar? First of all, have the faith that that Father is the Creator of heaven and that the people there belonged to the original eternal deity religion. When did they receive this knowledge? The Father says: I come every cycle, at the confluence age, in order to give knowledge. You are definitely going to become the lords of divinity at the beginning of the golden age. This is such first-class knowledge. While sitting here, you understand that you are claiming your inheritance of heaven from Baba and that you will become lords of divinity and masters of the land of divinity. Your intellects understand how wealthy the deities, Lakshmi and Narayan, were. They had a lot of jewellery etc.; they were very wealthy. So, first of all, recognise the Father and claim your inheritance from Him. You have to claim your inheritance by having remembrance. This is a subtle aspect. There were many huge palaces of diamonds and jewels, but they no longer exist. They will be constructed again at the right time. They existed and disappeared and they will definitely exist again. This is fixed in the drama. You have to use your intellects to understand these aspects. Everything gets destroyed in the war. Then the palaces will be built anew. They must have definitely built palaces. You also have visions of how the palaces came into existence. We are the ones who built them. It is not that they went beneath the sea and that they will now emerge from there, no. This cycle of the drama continues to turn. They think that Ravan’s Lanka and the golden Dwaraka were submerged and will emerge again. However, it is not like that. You are now becoming the masters of Dwaraka. You were so prosperous! You had everything – wealth and property. All of that has now vanished; it was all taken away. The same thing will happen again. First of all, give the Father’s introduction and then explain the secrets of how the cycle turns. It is the Father who will establish the golden age. Baba now sits here personally and tells you: Remember Me. It is through this fire of remembrance that you become pure from impure. There is no other way. It is through the fire of yoga that you souls become pure from impure. The Purifier Father comes and establishes the pure world. So, why do you then say that the Ganges is the Purifier? To do tapasya, penance and bathe in the Ganges etc. are all the paraphernalia of the path of devotion. The path of devotion was unadulterated to begin with, and then it became adulterated. It took half a cycle for it to become adulterated. From 16 celestial degrees it decreased to 14 celestial degrees and the degrees continued to decrease. The Father, the Ocean of Knowledge, explains this. Brahma, Vishnu and Shankar cannot be called the Ocean of Knowledge, the Seed of the human world tree. By saying “Supreme Father” your intellects are not drawn to Brahma, Vishnu or Shankar. When souls experience sorrow they remember the Father – the Supreme Father, the Supreme Soul. There is happiness in the golden age. Therefore, no one there calls out to Him. You souls now understand that you have experienced sorrow for half a cycle and that you are now going to heaven once again. There is no sorrow in the golden age, and so there is no need there to remember Baba. According to the drama, Baba will return home only after giving us our inheritance of happiness. When people grow old, they go into the stage of retirement and adopt a guru. Here, the Father, Himself, comes and becomes your Satguru. He says: I will take you all back home with Me. No one else can say this. No one else can take you back with him. Everyone definitely has to take rebirth and play a part. I do not take birth again and again. If I too were to take birth again and again, I would become tamopradhan. It is the souls that become impure. Alloy is mixed into souls. The terms ‘golden age  and ‘silver age are used now. It is definitely now the iron age. It is now the confluence. Therefore, the Father definitely has to come. It is the Father’s task to transform the old world and make it new. The Father is the Purifier, that is, the One who transforms the world. He is not the Creator of the world, but the One who transforms it. By saying that He is the Creator, human beings think that a huge annihilation takes place. The word ‘Purifier’ is accurate. Sages sing: O Purifier, Sita Rama. They never sing: The Ganges is the Purifier. By saying ‘Purifier’, the intellects are drawn to the Supreme Soul. The Ganges is not the Purifier; that is just water and it also exists there as well. However, everything there is satopradhan; the Ganges is also satopradhan. Here, it is tamopradhan and it creates floods and drowns villages etc. The Brahmaputra River drowns so many villages. This is the land of sorrow. You will not experience sorrow in the golden age. There, these rivers will follow their course accurately according to the law of nature. Here, they leave their course and flow here, there and everywhere. Because the five elements of nature are satopradhan there, water never causes sorrow. Here, even water causes sorrow. First of all, you have to understand who gives the happiness of heaven. Surely, it must be the Father. It is now hell. Baba has come. You are children of Prajapita Brahma, Brahma Kumars and Kumaris. The new world can only be created when Prajapita Brahma exists. It is said that humans were changed into deities. Who changed them? The Supreme Father, the Supreme Soul. Krishna himself was a deity. Only the Father comes and changes humans into deities. It is now that you know this. Previously, you just used to sing the praise of human beings changing into deities. You didn’t know who created the golden age or who the Creator is or how the golden-aged world changes into the iron-aged world. You children have understood that this is a huge stage under the element of the sky. The play is performed on it. An open stage is needed. Light is also needed when human beings are playing their parts. Therefore, the sun and the moon serve you in this way. The stars also shine. When night falls, they give light, that is, happiness. This is why people say: Deity sun and deity moon. They give the happiness of light. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Understand the cycle of the drama accurately and make effort accordingly. Become as merciful as the Father and bestow mercy on everyone.
  2. The Father is establishing the land of truth. Therefore, remain true to Him. Clean the soul with remembrance of the Father.
Blessing: May you be introverted and finish all your old accounts even in your thoughts and sanskars.
BapDada now wishes to see all your account books clear. Let there not be the slightest form of your old accounts of extroversion remaining in your thoughts or sanskars. To be constantly free from bondage and to be yogyukt is known as being introverted. So, do a lot of service, but do it while being introverted and no longer extroverted. Glorify the Father’s name with your face of introversion. Make souls so happy that they belong to the Father.
Slogan: To achieve success in the transformation of your thoughts, words, relationships and connections is to be an embodiment of success.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 28 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 July 2018

To Read Murli 27 July 2018 :- Click Here
28-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे-बच्चे – अर्थ सहित बाप को याद करने से ही तुम्हारे पाप नाश होंगे, आत्मा पतित से पावन बनेगी, नम्बरवन सब्जेक्ट है याद की”
प्रश्नः- मनुष्यों की अर्जी क्या है और बाप उस अर्जी को कैसे पूरा करते हैं?
उत्तर:- मनुष्य बाप से अर्जी करते हैं – ओ गॉड फादर, हमें पापों से मुक्त करो, ओ रहमदिल बाबा, रहम करो। बाबा सभी की अर्जी सुनकर स्वयं आते हैं और पापों से मुक्त होने की युक्ति बताते हैं – बच्चे, तुम मुझे याद करो। सिर्फ बाप की महिमा गाने से कोई फ़ायदा नहीं, चरित्र गाने नहीं हैं लेकिन राजयोग सीखकर चरित्रवान बनना है।
गीत:- भोलेनाथ से निराला…….. 

ओम् शान्ति। यह महिमा किसकी सुनी? बिगड़ी को बनाने वाले की। आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज सुनाने वाला वह है ऊंच ते ऊंच। जब कोई समझने के लिए आते हैं तो हमेशा उनको पहली बात समझानी है कि ऊंच ते ऊंच भगवान् गाया जाता है। ऊंच ते ऊंच उनका नाम भी है, ऊंच ते ऊंच उनका ठांव (रहने का स्थान) भी है। ग्रंथ में भी है ऊंचा जिसका नाम ऊंचा जिसका ठांव। ऊंच ते ऊंच रहने वाला है परमपिता परमात्मा। वह है निराकारी दुनिया, जहाँ निराकार परमपिता परमात्मा रहते हैं। फिर नीचे है आकारी और साकारी दुनिया। तो पहले-पहले परिचय उनका देना है। परमपिता परमात्मा तो है ही ट्रूथ। वह है रचयिता। फिर है उनकी रचना। ऊंच ते ऊंच बीजरूप, फिर उनके नीचे सूक्ष्मवतनवासी ब्रह्मा-विष्णु-शंकर। वह है रचना। रचयिता सबके ऊपर है। वह रचयिता है बाप, बाकी है रचना। सब एक परमपिता परमात्मा की सन्तान हैं, इसलिए हम आत्मायें सब भाई-भाई ठहरे। तो परमपिता परमधाम में रहते हैं। उनको ही परमात्मा कहा जाता है। शारीरिक पितायें तो बहुत हैं ना। पहले-पहले परिचय देना है रूहानी बाप का। उनकी है सब रचना। चित्रों पर भी ध्यान खिंचवाना है। पहले-पहले है ऊंच ते ऊंच परमपिता परमात्मा, जिसको मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ का चैतन्य बीजरूप कहा जाता है। वह सतचित-आनंद स्वरूप है। सत अर्थात् सच कहने वाला। आत्मा भी सत है, वह भी जलती-मरती नहीं। सत के बच्चे भी सच्चे होने चाहिए। तुम पहले-पहले देवी-देवता सच्चे थे। सचखण्ड स्थापन करने वाला सच्चा बाबा है। ऐसे नहीं कि परमपिता परमात्मा झूठ खण्ड स्थापन करते हैं, नहीं। सचखण्ड था फिर यह भारत झूठ खण्ड बना है। सच्चा है परमपिता परमात्मा। पतित बनाने वाले को सच्चा नहीं कहेंगे। और सब हैं झूठे। 5 विकार रूपी माया रावण झूठा बनाती है। राम सच्चा, रावण झूठा। रावण ही भारत को झूठा बनाते हैं। कहानी सारी भारत पर है। समझाना है भारत स्वर्ग था अब नर्क है। बाप को स्वर्ग बनाने वाला वा स्वर्ग का रचयिता कहा जाता है। महिमा भी भारत की है। आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान तुमको सुनाते हैं, जिससे तुम त्रिकालदर्शी बनते हो। इसको कहा जाता है – स्वदर्शन चक्र। तुम जानते हो कि हम आत्मायें फिर से परमपिता परमात्मा से वर्सा ले रही हैं। गाया भी जाता है आत्मायें और परमात्मा अलग रहे बहुकाल। अभी यह मिलन बहुत सुन्दर मंगलकारी है। तुम पहले-पहले बाप का परिचय देते हो। रचयिता बाप को सर्वव्यापी कहने से फिर यह सिद्ध नहीं होता कि हम सब बच्चे हैं। बच्चे ऐसे नहीं कहेंगे कि हम सब परमपिता परमात्मा हैं। सर्वव्यापी कहने से बाप के साथ वह लव नहीं रहता, न बुद्धियोग रहता है। भारत का प्राचीन योग मशहूर है। वास्तव में बुद्धि का योग लगाना है बाप से। सर्वव्यापी है तो फिर योग किससे लगायें? क्या अपने आपसे लगायें? कोई अर्थ ही नहीं निकलता। यहाँ तो तुम अर्थ सहित जानते हो। बाप खुद कहते हैं मेरे साथ योग लगाने से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। विकर्म तो होते रहते हैं। सम्पूर्ण कर्मातीत अवस्था अन्त में होगी। जब ज्ञान का अन्त होगा तब रिजल्ट निकलेगी। स्कूल में भी कोई किस सब्जेक्ट में तीखे जाते हैं, कोई किसमें तीखे जाते हैं। सहज सब्जेक्ट है याद की। बाप को याद किया जाता है। याद से फिर आत्मा अच्छी होगी। बर्तन साफ होगा। आत्मा जो इमप्योर बनी है वह प्योर बनती जायेगी। ऊंच ते ऊंच बाप आकर पढ़ाते हैं और ऊंच ते ऊंच पद प्राप्त कराते हैं। तुम मनुष्य से देवता बनते हो। समझते हो कि बरोबर आदि सनातन देवता धर्म था। उनको हिन्दू नहीं कहेंगे। हिन्दू धर्म शोभा नहीं देता, भारत का नाम ही बदलकर हिन्दुस्तान नाम रख दिया है। आदि सनातन पवित्र देवी-देवता धर्म था, जिसको वैकुण्ठ अथवा स्वर्ग कहा जाता है। वह तो सतयुग है। उनको कहा जाता है नई दुनिया। उनको रचने वाला बाप है। वह है निराकार। सभी कहते भी हैं ओ गॉड फादर। वह ऊंच ते ऊंच रहते हैं। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को सूक्ष्म देह मिली हुई है। उसको सूक्ष्म लोक कहा जाता है। और वह है शान्तिधाम, साइलेन्स वर्ल्ड। यह है स्थूलवतन। तो पहले-पहले जब कोई भी आते हैं तो उनसे फॉर्म भराना है। आत्मा का बाप कौन है? ऊंच ते ऊंच तो भगवान् को ही कहा जाता है। साधू सन्त आदि सब प्रार्थना करते हैं। प्रार्थना को रिक्वेस्ट भी कहा जाता है। ओ गॉड फादर, हम अर्जी करते हैं, हमारे पापों को दग्ध करो और रहमदिल बाबा रहम करो। ऐसे-ऐसे पुकारते हैं। रहम सभी तो नहीं करेंगे। सब पर रहम करने वाला तो एक ही बाप है। सर्वोदया कहते हैं ना। अब वह क्या करते हैं? कितने पर रहम करते होंगे। वह भी ड्रामा में नूँध है। इस समय जो कुछ चलता है उनसे तुम भेंट करते हो। गीता भागवत में यह बातें हैं नहीं। गीता है ज्ञान बाकी चरित्र आदि की तो कोई दरकार नहीं। स्टूडेन्ट टीचर के चरित्र गाते हैं क्या? मास्टर की बैठ महिमा करने से कोई भी फ़ायदा नहीं। बाप की सिर्फ महिमा करना – वह ज्ञान का सागर है, सुख का सागर है इससे कुछ भी मिलता नहीं है। अभी तुम बच्चे समझते हो कि बाबा हमको राजयोग सिखलाए त्रिकालदर्शी बनाता है अर्थात् तीनों कालों और तीनों लोकों की नॉलेज देता है। तो तुम मास्टर त्रिलोकी के नाथ भी कहला सकते हो। त्रिकालदर्शी भी कहला सकते हो। बरोबर हम तीनों लोकों को जानने वाले नाथ बनते हैं। यह राजयोग है। हम बादशाह बन रहे हैं। बनाने वाला बाप है। पारसनाथ कहते हैं ना। वह है लक्ष्मी-नारायण, भल उन्हों के मन्दिर हैं लेकिन मनुष्य जानते नहीं कि यह कौन हैं? लक्ष्मी-नारायण हैं पारसपुरी के नाथ। पारसपुरी सतयुग को कहा जाता है।

तुम यह जानते हो कि बरोबर कृष्ण के हीरों-जवाहरों के महल थे। पारसनाथ थे। तो पहले-पहले यह समझाओ कि यह मानते हो कि सभी का रचयिता बाप है। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर का भी वह रचयिता ठहरा। पहले तो यह निश्चय करो कि वह बाप स्वर्ग का रचयिता है। स्वर्ग में आदि सनातन देवी-देवता धर्म वाले थे। उन्हों को यह नॉलेज कब मिली? बाप कहते हैं कि मैं कल्प-कल्प संगमयुगे आता हूँ नॉलेज देने। बरोबर तुम सतयुग आदि के पारसनाथ बन रहे हो। कितनी फर्स्टक्लास नॉलेज है। यहाँ बैठे हो, तुम समझते हो हम बाबा से स्वर्ग का वर्सा पाए पारसनाथ पारसपुरी के मालिक बनेंगे। बुद्धि जानती है कि लक्ष्मी-नारायण आदि देवी-देवतायें कितने धनवान थे। बहुत जेवर आदि थे। बड़े साहूकार होते हैं। तो पहले-पहले बाप को जान उनसे वर्सा लेना है। याद से वर्सा लेना है। सूक्ष्म बात यह है। हीरे जवाहरों के कितने बड़े-बड़े महल थे। अभी वह खत्म हो गये हैं। फिर अपने समय पर खड़े हो जायेंगे। पहले थे, फिर खत्म हुए, फिर होंगे जरूर, ड्रामा में नूँध है। यह बुद्धि से समझने की बात है। लड़ाई में भी सब टूट फूट जाते हैं। फिर नयेसिर महल बनाते हैं। महल जरूर बनाये होंगे। तुमको साक्षात्कार होता है कि बरोबर महल हैं। हमने बनाये थे। ऐसे नहीं कि सागर के नीचे चले गये जो अब निकलने हैं। नहीं। यह तो ड्रामा का चक्र फिरता रहता है। वह समझते है कि लंका रावण की अथवा सोने की द्वारिका नीचे चली गई है जो फिर निकलेगी। परन्तु ऐसे तो है नहीं। अभी तुम द्वारिका के मालिक बन रहे हो। कितने मालामाल थे! धन दौलत सब था। अब सब गायब हो गया है। सब ले गये। फिर ऐसे ही होगा। पहले-पहले बाप का परिचय देकर फिर चक्र का राज़ समझाना है कि यह कैसे फिरता है? सतयुग की स्थापना बाप ही करेंगे। अब बाबा सम्मुख बैठ कहते हैं कि मुझे याद करो। इस याद की योग अग्नि से ही तुम पतित से पावन बनते हो और कोई उपाय नहीं है। योग अग्नि से आत्मा पतित से पावन बनती है। पतित-पावन बाप ही आकर पावन दुनिया स्थापन करते हैं। फिर तुम गंगा के लिए क्यों कहते हो कि यह पतित-पावनी है। जप, तप, गंगा स्नान आदि करना यह सब भक्ति मार्ग की सामग्री है। भक्ति मार्ग पहले अव्यभिचारी था फिर व्यभिचारी बना है। आधाकल्प लगा है व्यभिचारी बनने में। 16 कला से 14 कला, फिर कलायें कम होती जाती हैं। यह ज्ञान सागर बाप समझाते हैं। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को ज्ञान सागर, मनुष्य सृष्टि का बीजरूप नहीं कहा जाता। परमपिता कहने से बुद्धि ब्रह्मा-विष्णु-शंकर तरफ नहीं जाती है। आत्मायें परमपिता परमात्मा बाप को ही याद करती रहती हैं। जब उन्हों को दु:ख होता है। सतयुग में सुख है तो कोई भी पुकारता नहीं। अब आत्मायें जानती हैं कि आधाकल्प से दु:ख पाया है। अभी फिर स्वर्ग में जायेंगे। वहाँ कोई भी दु:ख नहीं इसलिए सतयुग में बाबा को याद करने की दरकार नहीं पड़ती। ड्रामा अनुसार बाबा हमको सुख का वर्सा देकर ही जायेंगे। मनुष्य जब बुढ़े होते हैं तो वानप्रस्थ में जाकर बैठते हैं। गुरू करते हैं। यहाँ तो बाप स्वयं आकर सतगुरू बनते हैं। कहते हैं कि तुम सबको साथ ले जाऊंगा। ऐसे और कोई भी कह न सकें। साथ में तो कोई भी नहीं ले जायेंगे। हर एक को पुनर्जन्म जरूर लेना पड़े। पार्ट में तो आना ही है। मैं तो घड़ी-घड़ी जन्म नहीं लेता हूँ। अगर मैं भी घड़ी-घड़ी जन्म लूँ तो तमोप्रधान बन जाऊं। आत्मा ही इमप्योर बनती है। आत्मा में खाद पड़ती है। गोल्डन एज, सिलवर एज अक्षर अभी है। बरोबर अभी आइरन एज हैं। अब संगम है। बाप को जरूर आना ही है। पुरानी सृष्टि को नया बनाना – यह बाप का ही काम है। बाप ही पतित-पावन है अर्थात् सृष्टि को बदलने वाला है। सृष्टि का रचयिता नहीं, बदलने वाला है। रचने वाला कहने से मनुष्य समझते हैं बड़ी प्रलय होती है। पतित-पावन अक्षर ठीक है। साधू लोग भी गाते हैं पतित-पावन सीताराम, ऐसे तो कभी नहीं कहते कि पतित-पावनी गंगा। पतित-पावन कहने से बुद्धि परमात्मा की तरफ चली जाती है। गंगा तो पतित-पावन है नहीं। यह तो पानी है सो तो वहाँ भी होता है। परन्तु वहाँ सब चीज़ें सतोप्रधान हो जाती हैं, गंगा भी सतोप्रधान। यहाँ तो तमोप्रधान है, फ्लड्स कर देती है, गांवड़ों को डुबो देती है। ब्रह्मपुत्रा कितने गांव को डुबो देती है। यह है ही दु:खधाम। सतयुग में थोड़ेही दु:ख भोगेंगे। वहाँ तो कायदेसिर अपना रास्ता लेकर चलेगी। यहाँ रास्ता छोड़ देती है। कभी किस तरफ चली जाती है। वहाँ 5 तत्व सतोप्रधान होने कारण जल भी कभी दु:ख नहीं देता। यहाँ जल भी दु:ख देता है। पहले तो यह समझना है कि स्वर्ग का सुख देने वाला कौन है? जरूर बाप ही होगा। अभी तो नर्क है। बाबा आया है। हम प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। प्रजापिता ब्रह्मा हो तब नई सृष्टि रचे। मनुष्य से देवता किये…….. किसने किया? परमपिता परमात्मा ने। कृष्ण तो स्वयं देवता है। बाप ही आकर मनुष्य को देवता बनाते हैं। यह तुम अभी जानते हो। आगे तो सिर्फ गाते थे मनुष्य से देवता किये…….. जानते नहीं थे कि सतयुग किसने स्थापन किया? रचयिता कौन है? सतयुगी सृष्टि फिर कलियुगी बन जाती है। तो तुम बच्चे समझ गये हो कि यह बड़ा माण्डवा है – आकाश तत्व का। इसमें खेल होता है, ओपेन स्टेज चाहिए ना। मनुष्य पार्ट बजाते हैं तो रोशनी भी चाहिए। इसके लिए फिर सूरज, चांद सेवा करते हैं। सितारे भी चमकते हैं। जब रात होती है तो रोशनी अर्थात् सुख देते हैं इसलिए सूर्य देवता, चांद देवता कहते हैं। रोशनी आदि का सुख देते हैं ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ड्रामा के चक्र को यथार्थ रीति समझकर पुरुषार्थ करना है। बाप समान रहमदिल बन सभी पर रहम करना है।

2) बाप सचखण्ड स्थापन कर रहे हैं इसलिए सच्चा होकर रहना है। बाप की याद से आत्मा को स्वच्छ बनाना है।

वरदान:- सर्व पुराने खातों को संकल्प और संस्कार रूप से भी समाप्त करने वाले अन्तर्मुखी भव
बापदादा बच्चों के सभी चौपड़े अब साफ देखने चाहते हैं। थोड़ा भी पुराना खाता अर्थात् बाह्यमुखता का खाता संकल्प वा संस्कार रूप में भी रह न जाए। सदा सर्व बन्धनमुक्त और योगयुक्त – इसी को ही अन्तर्मुखी कहा जाता है इसलिए सेवा खूब करो लेकिन बाह्यमुखी से अन्तर्मुखी बनकर करो। अन्तर्मुखता की सूरत द्वारा बाप का नाम बाला करो, आत्मायें बाप का बन जाएं – ऐसा प्रसन्नचित बनाओ।
स्लोगन:- अपने परिवर्तन द्वारा संकल्प, बोल, सम्बन्ध, सम्पर्क में सफलता प्राप्त करना ही सफलता-मूर्त बनना है।
Font Resize