27 november ki murli

TODAY MURLI 27 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 November 2020

27/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you know that this drama is a playTherefore, it is not a question of giving thanks.
Question: Which habit should serviceable children not have at all?
Answer: The habit of asking for something. You do not need to ask the Father for blessings or mercy, etc. You must not ask anyone for money. It is better to die then to ask for something. You know that, according to the drama, those who sowed a seed in the previous cycle will do so again. Those who want to create a high status for the future will definitely do that; they will definitely be co-operative. Your duty is to do service; you must not ask anyone for anything. It is on the path of devotion, not on the path of knowledge that you ask for things.
Song: The heart says “Thank you” to the One who has given me support.

Om shanti. You children mustn’t say, “Thank you,” to the Father, Teacher or Guru, because you children know that this is a predestined play. It is not a question of saying “Thank you”. You children understand this according to the drama. The word “drama” enters the intellects of you children. As soon as you say the word “play”, the whole play enters your intellects. That is, you souls become swadarshanchakradhari. The three worlds are in your intellects: the incorporeal world, the subtle region and corporeal world. You know that the play is now coming to an end. The Father comes and makes you trikaldarshi. He comes and gives you the knowledge of the three aspects of time, the three worlds, and the secrets of the beginning, the middle and the end of the world. Time is referred to as “kaal”. You will not be able to remember these things without noting them down. You children forget many points. You know the duration of the drama. It is when you receive the third eye of knowledge that you become trinetri and trikaldarshi. The most important thing is that you become theists. Otherwise, you are orphans. You children are receiving this knowledge. The intellectsof students constantly churning knowledge. This too is knowledge. The highest-on-high Father gives you this knowledge according to the drama. Only from your lips does the word “drama” emerge. In that, too, it is also only from the children who are engaged in doing service. You now know that you were orphans. Now that you have found the unlimited Father, the Master, you belong to the Lord and Master. Previously, you were unlimited orphans. The unlimited Father is the One who gives you unlimited happiness; no other father can give such happiness. You children have the new world and the old world in your intellects. However, you have to busy yourselves in the spiritual business of explaining accurately to others. Everyone has their own circumstances. Only those who stay on the pilgrimage of remembrance will be able to explain. It is by having remembrance that you receive power. The Father is the powerful Sword. You children have to fill yourselves with power. You attain sovereignty over the world with the power of yoga. You receive power through yoga, not through knowledge. It is explained to you children that knowledge is your source of income. Yoga is said to be power. There is the difference of day and night. Is yoga better or is knowledge better? Yoga is very well known. Yoga means remembrance of the Father. The Father says: Your sins will be cut away by having this remembrance. It is this that the Father emphasises. Knowledge is easy. God speaks: I tell you easy knowledge. I tell you the knowledge of the cycle of 84 births. Everything is included in this. It is history and geography. Knowledge and yoga are of just a second. I am a soul and I have to remember the Father. This requires effort. When you stay on the pilgrimage of remembrance, it is as though you forget your body. If you were to sit in the stage of being bodiless for even an hour, you would become so pure. When people go to sleep at night, they become bodiless for six to eight hours. At that time, they don’t perform sinful actions. Souls become tired and go to sleep; it isn’t that their sins are absolved. No; that is sleep; no sins are performed. If they don’t go to sleep, they continue to commit sins. So, sleep is also a protection. Having worked all day, the soul says: I am now going to sleep and become bodiless. You have to become bodiless while in the body. I, a soul, am detached from this body. I am an embodiment of peace. You would never have heard this praise of a soul: A soul is the truth, a living being, and an embodiment of peace. The praise of the Supreme Soul is: The Truth and the Living Being. He is the Ocean of Peace and Happiness. You are called masters; children too are called masters. The Father continues to show you ways to have remembrance. It isn’t that you have to sleep the whole day. No, you have to stay in remembrance and have your sins absolved. Continue to remember the Father as much as possible. It isn’t that the Father has mercy for you or gives you blessings. No, His being called “The Merciful Emperor” is just His praise. To make you satopradhan from tamopradhan is also in His part. Devotees sing His praise, but you don’t do that any more and this is why the songs are being gradually stopped. Do they sing songs in school? Children sit in silence. As soon as the teacher comes, they stand up. Then they sit down again. The Father says: I have been given the part of teaching you and so I have to teach you. There is no need for you children to stand up. You souls have to sit and listen. Your ways are completely different from those of the world. Would a father ask his children to stand up? No, you do that on the path of devotion, not here. The Father Himself stands up and says, “Namaste!” If students come to school late, the teacher punishes them by making them stand outside. This is why students are afraid of not arriving on time. Here, there is no question of fear. The Father continues to explain to you and you continue to receive murlis. You have to study them regularly. When you study them regularly, you receive a present mark. Otherwise, you will be given an absent mark. The Father says: I tell you very deep points. If you miss a murli, you will miss those points. These are new aspects, which no one in the world knows. When they see your pictures, they are amazed. These are not mentioned in any scriptures. God created these pictures. This is your new artgallery. This will sit in the intellects of those of the Brahmin clan who are to become deities. They will say: This is right. We studied this in the previous cycle. Therefore, it is definitely God who is teaching us. The Gita is the number one scripture of the scriptures of the path of devotion, because this is the first religion. Then, much later, after half the cycle, many other scriptures appear. First Abraham came. He was alone. Then there were two from one, and then there were four from two. When a religion grows to 100,000 to 150,000, its scriptures, etc. are created. It is when the religion has half grown that its scriptures are written. There is a proper calculation. You children should have a great deal of happiness. We are receiving our inheritance from the Father. You know that the Father is explaining the knowledge of the whole world cycle to you. This is unlimited history and geography. Tell everyone: The history and geography of the world that no one else can teach you is being explained to you. Although others can show you a map of the world, they can’t show you when or for how long it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. There is just one world. They ruled in Bharat, but they no longer exist there. These things are not in anyone’s intellect. They say that the duration of the cycle is hundreds of thousands of years. Baba doesn’t give you sweetest children much difficulty. The Father says: You have to become pure. You have been stumbling along for so long on the path of devotion in order to become pure. You now understand that it has been 2,500 years since you started stumbling. Baba has now come once again to give you your fortune of the kingdom. You remember this. The world definitely becomes new from old and old from new. You are now the masters of old Bharat, and you are becoming the masters of the new one. On the one hand, they sing a lot of praise of Bharat and on the other hand, they also continue to defame Bharat. You have this song. You can explain about what is happening now. Let people hear both these songs. You can show the contrast between the time of the kingdom of Rama (God) and this time. The Father is the Lord of the Poor. Only daughters of the poor will come to Baba. The wealthy have their own intoxication. Those who came in the previous cycle will do so again. There is nothing to worry about. Shiv Baba doesn’t have to worry about anything; it is Dada who has to worry. He has his own worry of becoming the number one pure soul. This requires incognito effort. When you write your chart you can understand that this one’s effort is greater. The Father always says: Keep a diary! Many children do write a diary and they have made a lot of improvement by writing a chart. This method is very good. Therefore, everyone should do this. You’ll benefit a great deal by keeping a diary. To keep a diary means to remember the Father. You have to write in it how much you remembered the Father. The diary will help you very much in making effort. Many hundreds of thousands of diaries are printed for you to note these things down. This is the main thing to note down. You must never forget this. Write it in your diary at the time. Write your full account at night. You will then realise that you are going into loss, because you still have to have your sins of many births burnt away. The Father shows you the way. Have mercy for yourselves! A teacher teaches you, he doesn’t give you blessings. It is better to die than to ask for blessings or mercy etc. You mustn’t ask anyone for money. You children are strictly forbidden to do that. The Father says: According to the drama, those who sowed a seed in the previous cycle and claimed their inheritance will do so again on their own. You mustn’t ask anyone for anything for any task. If someone doesn’t do anything, he won’t receive anything. When people make a lot of donations and perform a lot of charity, they receive something in return. They take birth to a king or a wealthy family. Those who want to do something will do it by themselves; they don’t need to ask anyone. Whatever they did in the previous cycle, the drama will inspire them to do the same. There is no need to ask for anything. Baba continues to tell you that the treasure-store will continue to be filled for service. I’m not going to ask the children to give Me money. The things of the path of devotion must not continue on the path of knowledge. Those who helped in the previous cycle will continue to do so again. You, yourselves, mustn’t ever ask for anything. Baba says: Children, you are not allowed to collect money. It is sannyasis who do that. Whatever small amount people give on the path of devotion, they receive the return of that for one birth. Here, it is for birth after birth. Therefore, it is good to give everything in this birth and to receive the return of it for birth after birth. That One’s name is the Innocent Lord of the Treasure-Store. Make effort and you can be threaded in the rosary of victory. When the treasure stores are full, all sorrow and suffering is removed. There is never untimely death there. Here, people are afraid of death. As soon as something happens, they remember death. You don’t have such thoughts there, because you will be in the land of immortality. This is the dirty land of death. Bharat was the land of immortality and it is now the land of death. The second half cycle has been very dirty for you; you have continued to come down. They have many dirty idols in the Jagadnath Temple. Baba is experienced; he has travelled everywhere. He has become ugly from beautiful. He used to live in a little village. In fact, the whole of Bharat is a little village; you are village urchins. You now understand that you are becoming the masters of the world. Don’t think that you are residents of Bombay. What is Bombay compared to heaven? Nothing at all! Not even worth a stone! We village urchins who became orphans are now becoming the masters of heaven. Therefore, let there be that happiness. The very name is heaven. The palaces are studded with so many diamonds and jewels. The Somnath Temple too was studded with diamonds and jewels. First of all, they built a temple to Shiva. They were so wealthy! Bharat now is a small village. In the golden age it was very prosperous. No one in the world except you knows these things. You say: Yesterday we were emperors and today we are beggars. We are once again becoming the masters of the world. You children should appreciate your fortune and be grateful. We are multimillion times fortunate. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to be saved from committing sin, make effort to become bodiless while in your body. Stay on the pilgrimage of remembrance in such a way that you forget your body.
  2. Churn knowledge and become theists. Never miss a murli. In order to make progress, note down your chart of remembrance in your diary.
Blessing: May you attain the limitless treasure of fortune with the key of knowledge and become full of all treasures.
At the confluence age, all of you children receive the key of knowledge with which to create your fortune. Use this key and take as many treasures of fortune as you want. As soon as you received the key, you became filled with all treasures. To the extent that you become full of all treasures, accordingly you automatically have that much happiness. You will experience it to be as though a waterfall of happiness is eternally and unceasingly flowing. You will appear to be full of all treasures with no lack of any type of attainment.
Slogan: Keep a good connection with the Father and you will continue to receive a current of all powers.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

27-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम ड्रामा के खेल को जानते हो इसलिए शुक्रिया मानने की भी बात नहीं है”
प्रश्नः- सर्विसएबुल बच्चों में कौन-सी आदत बिल्कुल नहीं होनी चाहिए?
उत्तर:- मांगने की। तुम्हें बाप से आशीर्वाद या कृपा आदि मांगने की जरूरत नहीं है। तुम किसी से पैसा भी नहीं मांग सकते। मांगने से मरना भला। तुम जानते हो ड्रामा अनुसार कल्प पहले जिन्होंने बीज बोया होगा वह बोयेंगे, जिनको अपना भविष्य पद ऊंच बनाना होगा वह जरूर सहयोगी बनेंगे। तुम्हारा काम है सर्विस करना। तुम किसी से कुछ मांग नहीं सकते। भक्ति में मांगना होता, ज्ञान में नहीं।
गीत:- मुझको सहारा देने वाले……..

ओम् शान्ति। यह बच्चों के अन्दर से शुक्रिया अक्षर बाप-टीचर-गुरू के लिए नहीं निकल सकता क्योंकि बच्चे जानते हैं यह खेल बना हुआ है। शुक्रिया आदि की बात नहीं है। यह भी बच्चे जानते हैं ड्रामा अनुसार। ड्रामा अक्षर भी तुम बच्चों की बुद्धि में आता है। खेल अक्षर कहने से ही सारा खेल तुम्हारी बुद्धि में आ जाता है। गोया स्वदर्शन चक्रधारी तुम आपेही बन जाते हो। तीनों लोक भी तुम्हारी बुद्धि में आ जाते हैं। मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन। यह भी जानते हो अब खेल पूरा होता है। बाप आकर तुमको त्रिकालदर्शी बनाते हैं। तीनों कालों, तीनों लोकों, आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाते हैं। काल समय को कहा जाता है। यह सब बातें नोट करने बिगर याद नहीं रह सकती। तुम बच्चे तो बहुत प्वाइंट्स भूल जाते हो। ड्रामा के ड्यूरेशन को भी तुम जानते हो। तुम त्रिनेत्री, त्रिकालदर्शी बनते हो, ज्ञान का तीसरा नेत्र मिल जाता है। सबसे बड़ी बात है कि तुम आस्तिक बन जाते हो, नहीं तो निधनके थे। यह ज्ञान तुम बच्चों को मिल रहा है। स्टूडेण्ट की बुद्धि में सदैव नॉलेज मंथन होती है। यह भी नॉलेज है ना। ऊंच ते ऊंच बाप ही नॉलेज देते हैं, ड्रामा अनुसार। ड्रामा अक्षर भी तुम्हारे मुख से निकल सकता है। सो भी जो बच्चे सर्विस में तत्पर रहते हैं। अभी तुम जानते हो – हम आरफन थे। अब बेहद का बाप धणी मिला है तो धणके बने हैं। पहले तुम बेहद के आरफन थे, बेहद का बाप बेहद का सुख देने वाला है और कोई बाप नहीं जो ऐसा सुख देता हो। नई दुनिया और पुरानी दुनिया यह सब तुम बच्चों की बुद्धि में है। परन्तु औरों को भी यथार्थ रीति समझायें, इस ईश्वरीय धन्धे में लग जाएं। हर एक के सरकमस्टांश अपने-अपने होते हैं। समझा भी वह सकेंगे जो याद की यात्रा में होंगे। याद से बल मिलता है ना। बाप है ही – जौहरदार तलवार। तुम बच्चों को जौहर भरना है। योगबल से विश्व की बादशाही पाते हो। योग से बल मिलता है, ज्ञान से नहीं। बच्चों को समझाया है – नॉलेज सोर्स ऑफ इनकम है। योग को बल कहा जाता है। रात-दिन का फ़र्क है। अब योग अच्छा या ज्ञान अच्छा? योग ही नामीग्रामी है। योग अर्थात् बाप की याद। बाप कहते हैं इस याद से ही तुम्हारे पाप कट जायेंगे। इस पर ही बाप ज़ोर देते हैं। ज्ञान तो सहज है। भगवानुवाच – मैं तुमको सहज ज्ञान सुनाता हूँ। 84 के चक्र का ज्ञान सुनाता हूँ। उसमें सब आ जाता है। हिस्ट्री-जॉग्राफी है ना। ज्ञान और योग दोनों है सेकण्ड का काम। बस हम आत्मा हैं, हमको बाप को याद करना है। इसमें मेहनत है। याद की यात्रा में रहने से शरीर की जैसे विस्मृति होती जाती। घण्टा भर भी ऐसे अशरीरी होकर बैठो तो कितने पावन हो जाएं। मनुष्य रात को कोई 6, कोई 8 घण्टा नींद करते हैं तो अशरीरी हो जाते हैं ना। उस समय में कोई विकर्म नहीं होता है। आत्मा थक कर सो जाती है। ऐसे भी नहीं कोई पाप विनाश होते हैं। नहीं, वह है नींद। विकर्म कोई होता नहीं है। नींद न करे तो पाप ही करते रहेंगे। तो नींद भी एक बचाव है। सारा दिन सर्विस कर आत्मा कहती है मैं अब सोता हूँ, अशरीरी बन जाता हूँ। तुमको शरीर होते अशरीरी बनना है। हम आत्मा इस शरीर से न्यारी, शान्त स्वरूप हैं। आत्मा की महिमा कभी नहीं सुनी होगी। आत्मा सत् चित आनन्द स्वरूप है। परमात्मा की महिमा गाते हैं कि सत है, चैतन्य है। सुख-शान्ति का सागर है। अब तुमको फिर कहेंगे मास्टर, बच्चे को मास्टर भी कहते हैं। तो बाप युक्तियां भी बतलाते रहते हैं। ऐसे भी नहीं सारा दिन नींद करनी है। नहीं, तुमको तो याद में रह पापों का विनाश करना है। जितना हो सके बाप को याद करना है। ऐसे भी नहीं बाप हमारे ऊपर रहम वा कृपा करते हैं। नहीं, यह उनका गायन है – रहमदिल बादशाह। यह भी उनका पार्ट है, तमोप्रधान से सतोप्रधान बनाना। भक्त लोग महिमा गाते हैं – तुम्हें सिर्फ महिमा नहीं गानी है। यह गीत आदि भी दिनप्र-तिदिन बंद होते जाते हैं। स्कूल में कभी गीत होते हैं क्या? बच्चे शान्ति में बैठे रहते हैं। टीचर आता है तो उठकर खड़े होते हैं, फिर बैठते हैं। यह बाप कहते हैं मुझे तो पार्ट मिला हुआ है पढ़ाने का, सो तो पढ़ाना ही है। तुम बच्चों को उठने की दरकार नहीं। आत्मा को बैठ सुनना है। तुम्हारी बात ही सारी दुनिया से न्यारी है। बच्चों को कहेंगे क्या तुम उठो। नहीं, वह तो भक्ति मार्ग में करते, यहाँ नहीं। बाप तो खुद उठकर नमस्ते करते हैं। स्कूल में अगर बच्चे देरी से आते हैं तो टीचर या तो रूल लगायेंगे या बाहर में खड़ा कर देंगे इसलिए डर रहता है टाइम पर पहुँचने का। यहाँ तो डर की बात नहीं। बाप समझाते रहते हैं – मुरलियां मिलती रहती हैं। वह रेग्युलर पढ़नी है। मुरली पढ़ो तो तुम्हारी प्रेजेन्ट मार्क पड़े। नहीं तो अबसेन्ट पड़ जायेगी क्योंकि बाप कहते हैं तुमको गुह्य-गुह्य बातें सुनाता हूँ। तुम अगर मुरली मिस करेंगे तो वह प्वाइंट्स मिस हो जायेंगी। यह हैं नई बातें, जो दुनिया में कोई नहीं जानते। तुम्हारे चित्र देखकर ही चक्रित हो जाते हैं। कोई शास्त्रों में भी नहीं है। भगवान ने चित्र बनाये थे। तुम्हारी यह चित्रशाला है नई। ब्राह्मण कुल के जो देवता बनने वाले होंगे उनकी बुद्धि में ही बैठेगा। कहेंगे यह तो ठीक है। कल्प पहले भी हमने पढ़ा था, जरूर भगवान पढ़ाते हैं।

भक्ति मार्ग के शास्त्रों में पहले नम्बर में गीता ही है क्योंकि पहला धर्म ही यह है। फिर आधाकल्प के बाद उसके भी बहुत पीछे दूसरे शास्त्र बनते हैं। पहले इब्राहम आया तो अकेला था। फिर एक से दो, दो से चार हुए। जब धर्म की वृद्धि होते-होते लाख डेढ़ हो जाते तो शास्त्र आदि बनते हैं। उनके भी आधा समय बाद ही बनते होंगे, हिसाब किया जाता है ना। बच्चों को तो बहुत खुशी होनी चाहिए। बाप से हमको वर्सा मिलता है। तुम जानते हो बाप हमको सारा ज्ञान सृष्टि चक्र का समझाते हैं। यह है बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी। सबको बोलो यहाँ वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी समझाई जाती है जो और कोई सिखला न सके। भल वर्ल्ड का नक्शा निकालते हैं। परन्तु उसमें यह कहाँ दिखलाते कि लक्ष्मी-नारायण का राज्य कब था, कितना समय चला। वर्ल्ड तो एक ही है। भारत में ही राज्य करके गये हैं, अब नहीं हैं। यह बातें किसकी भी बुद्धि में नहीं हैं। वह तो कल्प की आयु ही लम्बी लाखों वर्ष कह देते। तुम मीठे-मीठे बच्चों को कोई जास्ती तकलीफ नहीं देते। बाप कहते हैं पावन बनना है। पावन बनने के लिए तुम भक्ति मार्ग में कितने धक्के खाते हो। अब समझते हो धक्के खाते-खाते 2500 वर्ष गुजर गये। अब फिर बाबा आया है फिर से राज्य-भाग्य देने। तुमको यही याद है। पुरानी से नयी और नयी से पुरानी दुनिया जरूर होती है। अभी तुम पुराने भारत के मालिक हो ना। फिर नये के मालिक बनेंगे। एक तरफ भारत की बहुत महिमा गाते रहते, दूसरे तरफ फिर बहुत ग्लानि करते रहते। वह भी तुम्हारे पास गीत है। तुम समझाते हो – अब क्या-क्या हो रहा है। यह दोनों गीत भी सुनाने चाहिए। तुम बता सकते हो – कहाँ रामराज्य, कहाँ यह!

बाप है गरीब निवाज़। गरीबों की ही बच्चियां मिलेंगी। साहूकारों को तो अपना नशा रहता है। कल्प पहले जो आये होंगे वही आयेंगे। फिकरात की कोई बात नहीं। शिवबाबा को कभी कोई फिकरात नहीं होती, दादा को होगी। इनको अपना भी फिकर है, हमको नम्बरवन पावन बनना है। इसमें है गुप्त पुरूषार्थ। चार्ट रखने से समझ में आता है, इनका पुरूषार्थ जास्ती है। बाप हमेशा समझाते रहते हैं डायरी रखो। बहुत बच्चे लिखते भी हैं, चार्ट लिखने से सुधार बहुत हुआ है। यह युक्ति बहुत अच्छी है, तो सबको करना चाहिए। डायरी रखने से तुमको बहुत फायदा होगा। डायरी रखना माना बाप को याद करना। उसमें बाप की याद लिखनी है। डायरी भी मददगार बनेगी, पुरूषार्थ होगा। डायरियां कितनी लाखों, करोड़ों बनती हैं, नोट आदि करने लिए। सबसे मुख्य बात तो यह है नोट करने की। यह कभी भूलना नहीं चाहिए। उसी समय डायरी में लिखना चाहिए। रात को हिसाब-किताब लिखना चाहिए। फिर मालूम पड़ेगा यह तो हमको घाटा पड़ रहा है क्योंकि जन्म-जन्मान्तर के विकर्म भस्म करने हैं।

बाप रास्ता बताते हैं – अपने ऊपर रहम वा कृपा करनी है। टीचर तो पढ़ाते हैं, आशीर्वाद तो नहीं करेंगे। आशीर्वाद, कृपा, रहम आदि मांगने से मरना भला। कोई से पैसा भी नहीं मांगना चाहिए। बच्चों को सख्त मना है। बाप कहते हैं ड्रामा अनुसार जिन्होंने कल्प पहले बीज बोया है, वर्सा पाया है वह आपेही करेंगे। तुम कोई काम के लिए मांगो नहीं। नहीं करेगा तो नहीं पायेगा। मनुष्य दान-पुण्य करते हैं तो रिटर्न में मिलता है ना। राजा के घर वा साहूकार के पास जन्म होता है। जिनको करना होगा वह आपेही करेंगे, तुमको मांगना नहीं है। कल्प पहले जिन्होंने जितना किया है, ड्रामा उनसे करायेगा। मांगने की क्या दरकार है। बाबा तो कहते रहते हैं हुण्डी भरती रहती है, सर्विस के लिए। हम बच्चों को थोड़ेही कहेंगे पैसा दो। भक्ति मार्ग की बात ज्ञान मार्ग में नहीं होती। जिन्होंने कल्प पहले मदद की है, वह करते रहेंगे, आपेही कभी मांगना नहीं है। बाबा कहते बच्चे चन्दाचीरा तुम इकट्ठा नहीं कर सकते। यह तो संन्यासी लोग करते हैं। भक्ति मार्ग में थोड़ा भी देते हैं, उसका रिटर्न में एक जन्म लिए मिलता है। यह फिर है जन्म-जन्मान्तर के लिए। तो जन्म-जन्मान्तर के लिए सब कुछ दे देना अच्छा है ना। इनका तो नाम भोला भण्डारी है। तुम पुरूषार्थ करो तो विजय माला में पिरोये जा सकते हो, भण्डारा भरपूर काल कंटक दूर है। वहाँ कभी अकाले मृत्यु नहीं होती। यहाँ मनुष्य काल से कितना डरते हैं। थोड़ा कुछ होता है तो मौत याद आ जाता। वहाँ यह ख्याल ही नहीं, तुम अमरपुरी में चलते हो। यह छी-छी मृत्युलोक है। भारत ही अमरलोक था, अब मृत्युलोक है।

तुम्हारा आधाकल्प बहुत छी-छी पास हुआ है। नीचे गिरते आये हो। जगन्नाथ पुरी में बहुत गन्दे-गन्दे चित्र हैं। बाबा तो अनुभवी है ना। चारों तरफ घूमा हुआ है। गोरे से सांवरा बना है। गांव में रहने वाला था। वास्तव में यह सारा भारत गांव है। तुम गांव के छोरे हो। अब तुम समझते हो हम विश्व के मालिक बनते हैं। ऐसे मत समझना हम तो बाम्बे में रहने वाले हैं। बाम्बे भी स्वर्ग के आगे क्या है! कुछ भी नहीं। एक पत्थर भी नहीं। हम गांव के छोरे निधणके बन गये हैं अब फिर हम स्वर्ग के मालिक बन रहे हैं तो खुशी रहनी चाहिए। नाम ही है स्वर्ग। कितने हीरे-जवाहरात महलों में लगे रहते हैं। सोमनाथ का मन्दिर ही कितना हीरे-जवाहरातों से भरा हुआ था। पहले-पहले शिव का मन्दिर ही बनाते हैं। कितना साहूकार था। अभी तो भारत गांव है। सतयुग में बहुत मालामाल था। यह बातें दुनिया में तुम्हारे सिवाए कोई भी नहीं जानते। तुम कहेंगे कल हम बादशाह थे, आज फकीर हैं। फिर विश्व के मालिक बनते हैं। तुम बच्चों को अपने भाग्य पर शुक्रिया मानना चाहिए। हम पदमापदम भाग्यशाली हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विकर्मों से बचने के लिए इस शरीर में रहते अशरीरी बनने का पुरुषार्थ करना है। याद की यात्रा ऐसी हो जो शरीर की विस्मृति होती जाए।

2) ज्ञान का मंथन कर आस्तिक बनना है। मुरली कभी भी मिस नहीं करनी है। अपनी उन्नति के लिए डायरी में याद का चार्ट नोट करना है।

वरदान:- नॉलेज रूपी चाबी द्वारा भाग्य का अखुट खजाना प्राप्त करने वाले मालामाल भव
संगमयुग पर सभी बच्चों को भाग्य बनाने के लिए नॉलेज रूपी चाबी मिलती है। ये चाबी लगाओ और जितना चाहे उतना भाग्य का खजाना लो। चाबी मिली और मालामाल बन गये। जो जितना मालामाल बनते हैं उतना खुशी स्वत: रहती है। ऐसे अनुभव होता है जैसे खुशी का झरना अखुट अविनाशी बहता ही रहता है। वे सर्व खजानों से भरपूर मालामाल दिखाई देते हैं। उनके पास किसी भी प्रकार की अप्राप्ति नहीं रहती।
स्लोगन:- बाप से कनेक्शन ठीक रखो तो सर्व शक्तियों की करेन्ट आती रहेगी।

TODAY MURLI 27 NOVEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 November 2019

27/11/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Baba’s vision goes beyond the limited and the unlimited. You too have to go beyond the limited (golden age) and the unlimited (iron age).
Question: Which children are able to imbibe the highest-on-high jewels of knowledge very well?
Answer: Those whose intellects are connected in yoga to the one Father and who have become pure will be able to imbibe these jewels very well. A pure vessel is needed for this knowledge. All types of wrong thoughts have to end. By having yoga with the Father, your vessel becomes golden and the jewels are then able to stay in there.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains every day to you sweetest spiritual children. It has been explained to you children that this world cycle of knowledge, devotion and disinterest has been created. This knowledge should remain in your intellects. You children have to go beyond the limited and the unlimited. The Father is beyond the limited and the unlimited. You should understand the meaning of that too. The spiritual Father sits here and explains to you. This topic – knowledge, devotion and disinterest – also has to be explained. Knowledge is called the day when it is the new world. Devotion and ignorance do not exist there. That is a limited world because there are very few people there, and then growth gradually takes place. After half the cycle, devotion begins. The sannyas religion doesn’t exist there. There is no renunciation there. Then, later, the world population grows. Souls continue to come from up above and growth continues to take place here. It begins by being limited and goes on to become unlimited. The Father’s vision goes beyond the limited and the unlimited. He knows that there are very few children in the limited and that so much growth then takes place in the kingdom of Ravan. You now have to go beyond the limited and the unlimited. The world is so small in the golden age. There is no renunciation or disinterest there. Later, in the copper age, the other religions begin. There is the sannyas religion where they renounce their homes and families. Everyone has to know about these things. That is called hatha yoga and limited renunciation. They simply renounce their homes and families and go to the forests. Devotion begins in the copper age; there is no knowledge. Knowledge means the golden and silver ages and happiness, whereas devotion means ignorance and sorrow. This has to be explained very well. Then you have to go beyond happiness and sorrow, beyond the limited and the unlimited. People try to discover how high the sky is and how deep the ocean is. They try so hard, but are unable to reach the end. They fly an aeroplane, but it has to have enough fuel so that it can also return. They go very far, but they cannot go into the unlimited. They only go as far as the limited. You are going beyond the limited and the unlimited. You can now understand that, in the beginning, in the new world, there is the limited. There are very few people and that is called the golden age. You children should have the knowledge of the beginning, middle and end of creation. No one else has this knowledge. The Father, who is beyond the limited and unlimited, is the One who explains to you. No one else can explain this to you. He explains to you the secrets of the beginning, middle and end of creation. He then says: You have to go beyond this. There is nothing there. No matter how far people go, there is just the sky everywhere. That is called going beyond the limited and the unlimited. No one can reach the end. They would say that it is infinite. To say that it is infinite is easy, but they should understand the meaning of infinite. The Father is now giving you understanding. The Father says: I know the limited and also the unlimited. Such-and-such a religion was established at such-and-such a time. Your vision goes towards the limit of the golden age and then to the unlimited iron age. Then, we will go beyond to where there is nothing. We are going even above the sun and moon to where our sweet home, the land of peace, is. In fact, the golden age too is our sweet home, where there is peace and also the fortune of the kingdom and happiness; they are both there. When we go home, there will just be peace there. You wouldn’t mention happiness there. You are now establishing peace and also peace and happiness. There is peace and also the kingdom of happiness there. There is no question of happiness in the incorporeal world. Your kingdom continues for half the cycle and then, after half the cycle, there is the kingdom of Ravan. There is peacelessness through the five vices. You rule for 2500 years. After 2500 years, there is the kingdom of Ravan. Those people have written about hundreds of thousands of years. They have made everyone into complete buddhus. To say that the cycle of 5000 years is hundreds of thousands of years is real foolishness. They do not have any manners at all. The deities had such divine manners. That has now become a lack of manners; they don’t know anything. They have developed devilish traits. Previously, you too didn’t know anything. By using the sword of lust and causing one another sorrow from the beginning, through the middle to the end they made each other unhappy and that is why they are called Ravan’s community. They have portrayed Rama taking an army of monkeys. Ramachandra belonged to the silver age, so how could there have been monkeys there? Then, they also say that the Sita of Rama was abducted. Such things do not happen there. There won’t be as many of the 8.4 million species of living things and animals etc. that exist here, in the golden and silver ages. The Father sits here and explains the whole unlimited drama. You children have to become very far-sighted. Previously, you didn’t know anything at all. Although you are human beings, you didn’t know the play; you now understand who the greatest of all is. The Highest on High is God. They also sing the verses: Your name is the highest…. This is not in the intellect of anyone except you. You are also numberwise. The Father tells you the secrets of both the limited and the unlimited. There is nothing beyond that place. That is your place of residence which is also called Brahmand. Similarly, you are sitting in the element of sky here, but can you see anything of it? They refer to the radio as the sound from the ether. This sky is infinite: you cannot reach its end. So, what would people understand by calling it the sound from the ether? The mouth is also hollow. Sound emerges from the mouth. It is common for sound to emerge from your mouth and that is called “akaashvani” (sound from ether). The Father also has to speak through the ether. He has told you children the whole significance of yourselves. You now have faith. It is very easy. Just as we are souls, so the Father is the Supreme Soul. He is the highest soul of all. Everyone has received his own part. The highest of all is God, and then there is the dual-bead of the family path. Then, look how small the numberwise rosary is! Then, as the world grows, it becomes so large. There is the rosary of so many millions of beads, that is, of souls. All of this is the study. Imbibe very well in your intellects whatever the Father explains. You continue to hear the details of the tree. The Seed is up above. This is a variety tree. Its duration is so long. The tree continues to grow and so let just this remain in your intellects the whole day. The duration of the kalpa tree of this world is absolutely accurate. In 5000 years there cannot be the difference of even a second. You children who are very strong have so much knowledge in your intellects. Only when you are pure can you be strong. In order to imbibe this knowledge, a golden vessel is required. It will then become so easy – as easy as it is for Baba. Then, you will also be called master knowledge-full. The beads of the rosary will be created, numberwise, according to the efforts you make. No one, except Baba, can explain these things to you. This soul is also explaining to you. The Father only explains through this body, not through the body of the deities. The Father only comes once and becomes your Guru but, even then, it is the Father who has to play that part. He will come and play His part in 5000 years’ time. The Father explains: I am the Highest on High. Then, there is the dual-bead. Those who are the emperor and empress at the beginning then become Adi Dev and Adi Devi at the end. You have all of this knowledge in your intellects. If you explain this anywhere, they will be amazed: What you are saying is right. Only the Seed of the human world tree is knowledge-full. No one, apart from Him, can give knowledge. All of these things have to be imbibed, but children are unable to imbibe them. It is very simple; there is no difficulty. First, the pilgrimage of remembrance is needed so that the jewels can stay in a pure vessel. These are the highest-on-high jewels. Baba was a jeweller. He used to receive very good diamonds and emeralds etc. and he would keep them in silver boxes, beautifully laid on cotton wool. Anyone who saw them would say: This is something firstclass. It is the same here. Good things look nice in good containers. Your ears hear this and you imbibe it. If there is purity and your intellects are connected in yoga to the Father, you will imbibe it well. Otherwise, everything will flow away. A soul is so tiny and is filled with so much knowledge. Such good and pure vessels are required. No thoughts should arise. All wrong and bad thoughts should end. Remove your intellects’ yoga from everything else. By having yoga with Me, your vessels will be made golden so that the jewels can stay in it. You can then continue to donate to others. Bharat is considered to be a great donor. People donate a lot of physical wealth. However, this is the donation of the imperishable jewels of knowledge. Renounce everything including your bodies and let your intellects remain connected in yoga to the One. We belong to the Father and it is in this that effort is needed. The Father gives you your aim and objective. It is the children’s duty to make effort. It is only now that you can claim such a high status. Let there be no wrong or impure thoughts. The Father alone is the Ocean of Knowledge. He is beyond the limited and the unlimited. He sits here and explains everything. You think that Baba is seeing you, but in fact, I go up above, beyond the limited and the unlimited. I am the Resident of that place. You too have to go beyond the limited and the unlimited. Let there be no ordinary or impure thoughts. This requires effort. Whilst living at home with your families, you have to live like a lotus. Let your hands do the work whilst your hearts remember Baba. There are many householders. The children who live here do not take as much knowledge as householders do. Even those who run centres and read the murli fail, whereas those who are just studying go higher. As you progress further, you will continue to know everything. Everything Baba tells you is absolutely right. Some of those who used to teach have been eaten by Maya. Maya completed swallowed some maharathis; they are no longer here. They become influenced by Maya and becometraitors. Abroad too, some become traitors. They go to other places and seek refuge there. They go to the side that is powerful. At this time, death is just ahead, and so they go to the one who has a lot of power. You now understand that only the Father is powerful. The Father is the Almighty Authority. By teaching us, He makes us into the masters of the whole world. There, we receive everything. There is nothing lacking there for which we would have to make effort to attain. There, there is nothing that you don’t have; and, in that too, you attain a status, numberwise according to the efforts you made. No one, except the Father, knows these things. All are worshippers. There are the great Shankaracharyas etc. and Baba tells you their praise too. They are the ones who become the instruments to support Bharat well at first with the power of purity, that is, when they too are satopradhan. They are now tamopradhan. What power do they have now? You, who were worshippers, are now making effort to become worthy of worship. You now have all the knowledge in your intellects. Let your intellects imbibe these things and continue to explain them to others. Also remember the Father. The Father alone explains the secrets of the whole tree. You children have to become just as sweet. This is a battle, is it not? Many storms of Maya come. Everything has to be tolerated. When you stay in remembrance of the Father, all storms will go away. They show the play of Hatamtai – putting a bead in your mouth. When the bead is put in your mouth, Maya goes away. When the bead is removed, Maya comes. There is also the “touch-me-not” plant; as soon as you touch it, it wilts. Maya is very clever. Whilst you are studying such an elevated study and just sitting here, she makes you fall and this is why the Father continues to explain: Consider yourselves to be brothers and you will be able to go beyond the limited and unlimited. If bodies do not remain, where would your vision go? You have to make so much effort. You mustn’t become unconscious on just hearing about it. Your efforts continue every cycle and you claim your fortune of the kingdom. The Father says: Forget everything you have studied, but listen to the things that you have never heard before and have remembrance. That is called the path of devotion. You are Raj Rishis. Open your locks of hair and conduct the murli! Everything that the sages and holy men etc. relate is a murli of human beings. This is the murli of the unlimited Father. In the golden and silver ages, there is no need for the murli of knowledge. There, there is no need for knowledge or devotion. You receive this knowledge at the confluence age and it is only the Father who gives it to you. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Let your intellect imbibe the jewels of knowledge and donate them. Remain in such a stage of being beyond the limited and the unlimited that you never have any wrong or impure thoughts. Have the awareness that you souls are brothers.
  2. In order to be saved from storms of Maya, put the bead of remembrance of the Father in your mouth. Everything has to be tolerated. Do not become a “touch-me-not” plant. Do not be defeated by Maya.
Blessing: May you be a true server and open the curtains of revelation by making all the authorities of all fields co-operative.
The curtains of revelation will open when those of all authorities come together and say that here, there is the authority of God; it is the most elevated authority, the Godly authority, the authority of spirituality. Let everyone come together on one stage and have a sneh-milan (a gathering of love). For this, tie everyone with a thread of love to bring them closer and make them co-operative. This love will become a magnet that draws all of them together to the one place, on the Father’s stage. So now, become instruments and do the service of the hero parts of the final revelation and you will then be said to be true servers.
Slogan: To receive everyone’s blessings from your service is a lift to move higher.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 NOVEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 November 2019

27-11-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाबा की दृष्टि हद और बेहद से भी पार जाती है, तुम्हें भी हद (सतयुग), बेहद (कलियुग) से पार जाना है”
प्रश्नः- ऊंच ते ऊंच ज्ञान रत्नों की धारणा किन बच्चों को अच्छी होती है?
उत्तर:- जिनका बुद्धियोग एक बाप के साथ है, पवित्र बने हैं, उन्हें इन रत्नों की धारणा अच्छी होगी। इस ज्ञान के लिए शुद्ध बर्तन चाहिए। उल्टे-सुल्टे संकल्प भी बन्द हो जाने चाहिए। बाप के साथ योग लगाते-लगाते बर्तन सोना बने तब रत्न ठहर सकें।

ओम शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को रूहानी बाप बैठ रोज़-रोज़ समझाते हैं। यह तो समझाया है बच्चों को-ज्ञान, भक्ति और वैराग्य का यह सृष्टि चक्र बना हुआ है। बुद्धि में यह ज्ञान रहना चाहिए। तुम बच्चों को हद और बेहद से पार जाना है। बाप तो हद और बेहद से पार है। उनका भी अर्थ समझना चाहिए ना। रूहानी बाप बैठ समझाते हैं। वह भी टॉपिक समझानी है कि ज्ञान, भक्ति, पीछे है वैराग्य। ज्ञान को कहा जाता है दिन, जबकि नई दुनिया है। उसमें यह भक्ति अज्ञान है नहीं। वह है हद की दुनिया क्योंकि वहाँ बहुत थोड़े होते हैं। फिर आहिस्ते-आहिस्ते वृद्धि होती है। आधा समय बाद भक्ति शुरू होती है। वहाँ सन्यास धर्म होता ही नहीं। सन्यास वा त्याग होता नहीं। फिर बाद में सृष्टि की वृद्धि होती है। ऊपर से आत्मायें आती जाती हैं। यहाँ वृद्धि होती रहती। हद से शुरू होती है, बेहद में जाती है। बाप की तो हद और बेहद से पार दृष्टि जाती है। जानते हैं हद में कितने थोड़े बच्चे होते हैं फिर रावण राज्य में कितनी वृद्धि हो जाती है। अब तुमको हद और बेहद से भी पार जाना है। सतयुग में कितनी छोटी दुनिया है। वहाँ सन्यास वा वैराग्य आदि होता नहीं। बाद में द्वापर से लेकर फिर और धर्म शुरू होते हैं। सन्यास धर्म भी होता है जो घरबार का सन्यास करते हैं। सबको जानना तो चाहिए ना। उनको कहा जाता हठयोग और हद का सन्यास। सिर्फ घरबार छोड़ जंगल में जाते हैं। द्वापर से भक्ति शुरू होती है। ज्ञान तो होता ही नहीं। ज्ञान माना सतयुग-त्रेता सुख। भक्ति माना अज्ञान और दु:ख। यह अच्छी रीति समझाना होता है फिर दु:ख और सुख से पार जाना है। हद बेहद से पार। मनुष्य जांच करते हैं ना। कहाँ तक समुद्र है, आसमान है। बहुत कोशिश करते हैं परन्तु अन्त पा नहीं सकते हैं। एरोप्लेन में जाते हैं। उसमें भी इतना तेल चाहिए ना जो फिर वापिस भी लौट सकें। बहुत दूर तक जाते हैं परन्तु बेहद में जा नहीं सकते। हद तक ही जायेंगे। तुम तो हद, बेहद से पार जाते हो। अभी तुम समझ सकते हो पहले नई दुनिया में हद है। बहुत थोड़े मनुष्य होते हैं। उसको सतयुग कहा जाता है। तुम बच्चों को रचना के आदि, मध्य, अन्त की नॉलेज होनी चाहिए ना। यह नॉलेज और कोई में है नहीं। तुमको समझाने वाला बाप है जो बाप हद और बेहद से पार है और कोई समझा न सके। रचना के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाते हैं फिर कहते इससे पार जाओ। वहाँ तो कुछ भी रहता नहीं। कितना भी दूर जाते हैं, आसमान ही आसमान है। इनको कहा जाता है हद बेहद से पार। कोई अन्त नहीं पा सकते। कहेंगे बेअन्त। बेअन्त कहना तो सहज है परन्तु अन्त का अर्थ समझना चाहिए। अभी तुमको बाप समझ देते हैं। बाप कहते हैं मैं हद को भी जानता हूँ, बेहद को भी जानता हूँ। फलाने-फलाने धर्म फलाने-फलाने समय स्थापन हुए हैं! दृष्टि जाती है सतयुग की हद तरफ। फिर कलियुग के बेहद तरफ। फिर हम पार चले जायेंगे। जहाँ कुछ नहीं। सूर्य चांद के भी ऊपर हम जाते हैं, जहाँ हमारा शान्तिधाम, स्वीटहोम है। यूँ सतयुग भी स्वीट होम है। वहाँ शान्ति भी है तो राज्य-भाग्य सुख भी है-दोनों ही हैं। घर जायेंगे तो वहाँ सिर्फ शान्ति होगी। सुख का नाम नहीं लेंगे। अभी तुम शान्ति भी स्थापन कर रहे हो और सुख-शान्ति भी स्थापन कर रहे हो। वहाँ तो शान्ति भी है, सुख का राज्य भी है। मूलवतन में तो सुख की बात नहीं।

आधाकल्प तुम्हारा राज्य चलता है फिर आधाकल्प के बाद रावण का राज्य आता है। अशान्ति है ही 5 विकारों से। 2500 वर्ष तुम राज्य करते हो फिर 2500 वर्ष बाद रावण राज्य होता है। उन्हों ने तो लाखों वर्ष लिख दिया है। एकदम जैसे बुद्धू बना दिया है। पांच हज़ार वर्ष के कल्प को लाखों वर्ष कह देना बुद्धू-पना कहेंगे ना। ज़रा भी सभ्यता नहीं है। देवताओं में कितनी दैवी सभ्यता थी। वह अब असभ्यता हो पड़ी है। कुछ नहीं जानते। आसुरी गुण आ गये हैं। आगे तुम भी कुछ नहीं जानते थे। काम कटारी चलाए आदि-मध्य-अन्त दु:खी बना देते हैं इसलिए उनको कहा ही जाता है रावण सम्प्रदाय। दिखाया है राम ने बन्दर सेना ली। अब रामचन्द्र त्रेता का, वहाँ फिर बन्दर कहाँ से आये और फिर कहते राम की सीता चुराई गई। ऐसी बातें तो वहाँ होती ही नहीं। जीव जानवर आदि 84 लाख योनियां जितनी यहाँ हैं उतनी सतयुग-त्रेता में थोड़ेही होंगी। यह सारा बेहद का ड्रामा बाप बैठ समझाते हैं। बच्चों को बहुत दूरांदेशी बनना है। आगे तुमको कुछ भी पता नहीं था। मनुष्य होकर और नाटक को नहीं जानते हैं। अभी तुम समझते हो सबसे बड़ा कौन है? ऊंच ते ऊंच भगवान्। श्लोक भी गाते हैं ऊंचा तेरा नाम…… अब तुम्हारे सिवाए और कोई की बुद्धि में नहीं है। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं। बाप हद और बेहद का दोनों राज़ समझाते हैं। उनसे पार कुछ भी है नहीं। वह है तुम्हारे रहने का स्थान, जिसको ब्रह्माण्ड भी कहते हैं। जैसे यहाँ तुम आकाश तत्व में बैठे हो, इनमें कुछ देखने में आता है क्या? रेडियो में कहते हैं आकाशवाणी। अब यह आकाश तो बेअन्त है। अन्त पा नहीं सकते। तो आकाशवाणी कहने से मनुष्य क्या समझेंगे। यह जो मुख है यह है पोलार। मुख से वाणी (आवाज़) निकलती है। यह तो कॉमन बात है। मुख से आवाज़ निकलना जिसको आकाशवाणी कहा जाता है। बाप को भी आकाश द्वारा वाणी चलानी पड़े। तुम बच्चों को अपना भी राज़ सारा बताया है। तुमको निश्चय होता है। है बहुत सहज। जैसे हम आत्मा हैं वैसे बाप भी परम आत्मा है। ऊंच ते ऊंच आत्मा है ना। सबको अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। सबसे ऊंच ते ऊंच भगवान फिर प्रवृत्ति मार्ग का युगल मेरू। फिर नम्बरवार माला देखो कितनी थोड़ी है फिर सृष्टि बढ़ते-बढ़ते कितनी बड़ी हो जाती है। कितने करोड़ दानों अर्थात् आत्माओं की माला है। यह सब है पढ़ाई। बाप जो समझाते हैं उनको अच्छी रीति बुद्धि में धारण करो। झाड़ की डिटेल तो तुम सुनते रहते हो। बीज ऊपर में है। यह वैराइटी झाड़ है। इनकी आयु कितनी है। झाड़ वृद्धि को पाता रहता है तो सारा दिन बुद्धि में यही रहे। इस सृष्टि रूपी कल्प वृक्ष की आयु बिल्कुल एक्यूरेट है। 5 हज़ार वर्ष से एक सेकण्ड का भी फर्क नहीं हो सकता। तुम बच्चों की बुद्धि में अब कितनी नॉलेज है, जो अच्छे मजबूत हैं। मजबूत तब होंगे जब पवित्र हों। इस नॉलेज की धारणा करने के लिए सोने का बर्तन चाहिए। फिर ऐसा सहज हो जायेगा जैसे बाबा के लिए सहज है। फिर तुमको भी कहेंगे मास्टर नॉलेजफुल। फिर नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार माला का दाना बन जायेंगे। ऐसी-ऐसी बातें बाबा बिगर कोई समझा न सकें। यह आत्मा भी समझा रही है। बाप भी इस तन द्वारा ही समझाते हैं, न कि देवताओं के शरीर से। बाप एक ही बार आकर गुरू बनते हैं फिर भी बाप को ही पार्ट बजाना है। 5 हजार वर्ष बाद आकर पार्ट बजायेंगे।

बाप समझाते हैं ऊंच ते ऊंच मैं हूँ। फिर है मेरू। जो आदि में महाराजा-महारानी हैं, वह फिर जाकर अन्त में आदि देव, आदि देवी बनेंगे। यह सारा ज्ञान तुम्हारी बुद्धि में है। तुम कहाँ भी समझाओ तो वन्डर खायेंगे। यह तो ठीक बताते हैं। मनुष्य सृष्टि का बीजरूप ही नॉलेजफुल है। उनके बिगर और कोई नॉलेज दे नहीं सकते। यह सब बातें धारण करनी हैं परन्तु बच्चों को धारणा होती नहीं है। है बहुत सिम्पुल। कोई मुश्किलात नहीं है। एक तो याद की यात्रा चाहिए इसमें, जो फिर पवित्र बर्तन में रत्न ठहरें। यह ऊंच ते ऊंच रत्न हैं। बाबा तो जवाहरी था। बहुत अच्छा हीरा माणिक आदि आता था तो चांदी की डिब्बी में कपूस आदि में अच्छी रीति रखते थे। जो कोई भी देखे तो कहेंगे यह तो बड़ी फर्स्टक्लास चीज है। यह भी ऐसे है। अच्छी चीज़ अच्छे बर्तन में शोभती है। तुम्हारे कान सुनते हैं। उनमें धारणा होती है। पवित्र होगा, बुद्धियोग बाप से होगा तो धारणा अच्छी होगी। नहीं तो सब निकल जायेगा। आत्मा भी है कितनी छोटी। उनमें कितना ज्ञान भरा हुआ है। कितना अच्छा शुद्ध बर्तन चाहिए। कोई संकल्प भी न उठे। उल्टे-सुल्टे संकल्प सब बन्द हो जाने चाहिए। सब तरफ से बुद्धियोग हटाना है। मेरे साथ योग लगाते-लगाते बर्तन सोना बना दो जो रत्न ठहर सकें। फिर दूसरों को दान करते रहेंगे। भारत को महादानी माना जाता है, वह धन दान तो बहुत करते हैं। परन्तु यह है अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान। देह सहित जो कुछ है वह सब छोड़-कर एक के साथ बुद्धि का योग रहे। हम तो बाप के हैं, इसमें ही मेहनत लगती है। एम ऑब्जेक्ट तो बाप बता देते हैं। पुरुषार्थ करना बच्चों का काम है। अब ही इतना ऊंच पद पा सकेंगे। कोई भी उल्टा-सुल्टा संकल्प वा विकल्प न आये। बाप ही नॉलेज का सागर, हद बेहद से पार है। सब बैठ समझाते हैं। तुम समझते हो बाबा हमको देखते हैं परन्तु हम तो हद-बेहद से पार ऊपर चला जाता हूँ। मैं रहने वाला भी वहाँ का हूँ। तुम भी हद बेहद से पार चले जाओ। संकल्प विकल्प कुछ भी न आये। इसमें मेहनत चाहिए। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान बनना है। हथ कार डे दिल यार डे। गृहस्थी तो बहुत हैं। गृहस्थी जितना उठाते हैं उतना घर में रहने वाले बच्चे नहीं। सेन्टर चलाने वाले, मुरली चलाने वाले भी ना पास हो जाते हैं और पढ़ने वाले ऊंच चले जाते हैं। आगे तुमको सब मालूम पड़ता जायेगा। बाबा बिल्कुल ठीक बताते हैं। हमको जो पढ़ाते थे उनको माया खा गई। महारथी को माया एकदम हप कर गई। हैं नहीं। मायावी ट्रेटर बन जाते हैं। विलायत में भी ट्रेटर बन पड़ते हैं ना। कहाँ-कहाँ जाकर शरण लेते हैं। जो पॉवरफुल होते हैं उस तरफ चले जाते हैं। इस समय तो मौत सामने है ना तो बहुत ताकत वाले पास जायेंगे। अभी तुम समझते हो बाप ही पॉवरफुल है। बाप है सर्वशक्तिमान। हमको सिखलाते-सिखलाते सारे विश्व का मालिक बना देते हैं। वहाँ सब कुछ मिल जाता है। कोई अप्राप्त वस्तु नहीं होती, जिसकी प्राप्ति के लिए हम पुरूषार्थ करें। वहाँ कोई ऐसी चीज़ होती नहीं जो तुम्हारे पास न हो। सो भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार पद पाते हैं। बाप बिगर ऐसी बातें कोई नहीं जानते। सब हैं पुजारी। भल बड़े-बड़े शंकराचार्य आदि हैं, बाबा उन्हों की महिमा भी सुनाते हैं। पहले पवित्रता की ताकत से भारत को बहुत अच्छा थमाने निमित्त बनते हैं। सो भी जब सतोप्रधान होते हैं। अभी तो तमोप्रधान हैं। उनमें क्या ताकत रखी है। अभी तुम जो पुजारी थे सो फिर पूज्य बनने का पुरुषार्थ कर रहे हो। अभी तुम्हारी बुद्धि में सारा ज्ञान है। बुद्धि में धारणा रहे और तुम समझाते रहो। बाप को भी याद करो। बाप ही सारे झाड़ का राज़ समझाते हैं। बच्चों को मीठा भी ऐसा बनने का है। युद्ध है ना। माया के तूफान भी बहुत आते हैं। सब सहन करना पड़ता है। बाप की याद में रहने से तूफान सब चले जायेंगे। हातमताई का खेल बताते हैं ना। मुहलरा डालते थे, माया चली जाती थी। मुहलरा निकालने से ही माया आ जाती थी। छुईमुई होती है ना। हाथ लगाओ तो मुरझा जाते हैं। माया बड़ी तीखी है, इतना ऊंच पढ़ाई पढ़ते-पढ़ते बैठे-बैठे गिरा देती है इसलिए बाप समझाते रहते हैं अपने को भाई-भाई समझो तो फिर हद बेहद से पार चले जायेंगे। शरीर ही नहीं तो फिर दृष्टि कहाँ जायेगी। इतनी मेहनत करनी है, सुनकर फाँ नहीं हो जाना है। कल्प-कल्प तुम्हारा पुरुषार्थ चलता है और तुम अपना भाग्य पाते हो। बाप कहते हैं पढ़ा हुआ सब भूलो। बाकी जो कभी नहीं पढ़े हो वह सुनो और याद करो। उनको कहा जाता है भक्ति मार्ग। तुम राजऋषि हो ना। जटायें खुली हो और मुरली चलाओ। साधु-सन्त आदि जो सुनाते हैं वह सब है मनुष्यों की मुरली। यह है बेहद के बाप की मुरली। सतयुग-त्रेता में तो ज्ञान के मुरली की दरकार ही नहीं। वहाँ न ज्ञान की, न भक्ति की दरकार है। यह ज्ञान तुमको मिलता है इस संगमयुग पर और बाप ही देने वाला है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि में ज्ञान रत्नों को धारण कर दान करना है। हद बेहद से पार ऐसी स्थिति में रहना है जो कभी भी उल्टा-सुल्टा संकल्प वा विकल्प न आये। हम आत्मा भाई-भाई हैं, यही स्मृति रहे।

2) माया के तूफानों से बचने के लिए मुख में बाप की याद का मुहलरा डाल लेना है। सब कुछ सहन करना है। छुईमुई नहीं बनना है। माया से हार नहीं खानी है।

वरदान:- सर्व सत्ताओं को सहयोगी बनाए प्रत्यक्षता का पर्दा खोलने वाले सच्चे सेवाधारी भव
प्रत्यक्षता का पर्दा तब खुलेगा जब सब सत्ता वाले मिलकर कहेंगे कि श्रेष्ठ सत्ता, ईश्वरीय सत्ता, आध्यात्मिक सत्ता है तो यही एक परमात्म सत्ता है। सभी एक स्टेज पर इकट्ठे हो ऐसा स्नेह मिलन करें। इसके लिए सबको स्नेह के सूत्र में बांध समीप लाओ, सहयोगी बनाओ। यह स्नेह ही चुम्बक बनेगा जो सब एक साथ संगठन रूप में बाप की स्टेज पर पहुंचेंगे। तो अब अन्तिम प्रत्यक्षता के हीरो पार्ट में निमित्त बनने की सेवा करो तब कहेंगे सच्चे सेवाधारी।
स्लोगन:- सेवा द्वारा सर्व की दुआयें प्राप्त करना – यह आगे बढ़ने की लिफ्ट है।

TODAY MURLI 27 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 November 2018 :- Click Here

27/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to become murlidhars (flute-players) like the Father. Only murlidhar children become the Father’s helpers. The Father is pleased with such children.
Question: Which children’s intellects become very humble?
Answer: The intellects of those who donate the imperishable jewels of knowledge and become true philanthropists and those who become clever salesm en become very humble and very refined by doing service. You should never have any arrogance when making a donation. You should always remain aware that you are giving that which Shiv Baba has given you. There is benefit in staying in remembrance of Shiv Baba.
Song: You are the Mother and the Father. 

Om shanti. His name is not proved by simply playing the song, “You are the Mother and Father”. If you first play the song, “Salutations to Shiva” and then “You are the Mother and Father”, they would come to know the knowledge. People go to temples. When they go to a Lakshmi and Narayan Temple or a Krishna Temple, they go in front of the idols of the deities and, without understanding anything, they say: “You are the Mother and Father”. So, if you first play the song, “Salutations to Shiva” and then “You are the Mother and Father”, they can come to know His praise. These songs are good for newcomers. They make it easy to explain to them. The Father’s name is Shiva. It cannot be said that Shiva is omnipresent. Otherwise, everyone’s praise would then be the same. His very name is Shiva. No one else can give himself the name Shiva. His ways and means are unique. They are completely different from those of all human beings including the deities. Only the Mother and Father can teach this knowledge. There are no mothers among the sannyasis; this is why they (sannyasis) are not able to teach Raja Yoga. They cannot say “Salutations to Shiva” to anyone. You cannot say “Salutations to Shiva” referring to a bodily being. All of this has to be explained, but you children are all numberwise. Sometimes, even good children miss some points. They consider themselves to be very clever. There has to be cleanliness in the heart in this. It takes time to speak the truth about everything and to remain true in everything. By your coming into body consciousness, there is familiarity etc. and many other aspects are included in that. As yet, none of you can say that you have become soul conscious, otherwise you would have attained your karmateet stage. All are numberwise. Some children are very unworthy. It is understood who is doing Baba’s service. Only when they climb onto Shiv Baba’s heart throne can they come close in the rosary of Rudra and also become worthy of sitting on a throne. It is also the worthy children, those who become his helpers, who climb onto their physical father’s heart-throne. This is the unlimited Father’s business of the imperishable jewels of knowledge. So the Father would also be pleased with those who help Him in His business. You have to imbibe the imperishable jewels of knowledge and also inspire others to imbibe them. Some people think that they have insured themselves, that they will receive the reward of that. Here, you have to donate to many. Become philanthropist s like the Father by donating the imperishable jewels of knowledge. The Father comes to fill your aprons with the jewels of knowledge. It isn’t a question of wealth. The Father only likes worthy children. If you don’t know how to do this business, how could you be called the children of Murlidhar, the Businessman? You should be ashamed of yourselves if you don’t do any business. When a businessman sees that a salesman is clever, he offers him a partnership. You cannot receive a partnership just like that. By doing this business, your intellects become very humble. By doing service your intellects become very refined. Baba and Mama relate their experience. Baba is the One who teaches you. You know that this Baba imbibes knowledge very well and also conducts the murli very well. Achcha, Shiv Baba is in this one, He is Murlidhar anyway, but this Baba also knows everything. Otherwise, how else would he claim such a high status? Baba has explained that you must always consider it to be Shiv Baba who speaks this knowledge. By remembering Shiv Baba, there is benefit for you. Shiv Baba comes in this one. Mama speaks separately, in the personality of Mama. Her name has to be glorified because females have to be given a lift. It is said: Whatever she is, she is mine and so I have to look after her. It is the husbands who say this. A wife would not say: “Whatever he is, he is mine.” The Father says: Whatever you children are, you are Mine and so I have to look after you. It is the Father’s name that is glorified. Here, the Father’s name is glorified anyway, and then the names of the Shaktis have to be glorified. They receive a very good chance to do service. Day by day, service will become very easy. There is knowledge and devotion, day and night. The golden and silver ages are the day of happiness; the copper and iron ages are the night of sorrow. There is no devotion in the golden age. It is very easy, but if it is not in your fortune, you are not able to imbibe it. You receive very easy points. Go and explain these to your friends and relatives. Uplift your home. You are the ones who live at home with your families and so you can explain these aspects very easily to them. Only the one parlokik Father is the Bestower of Salvation. He is also the Teacher and the Satguru. All the rest, from the copper age onwards, have been bringing everyone down into degradation. Degraded and sinful souls exist in the iron age. There is no mention of sinful souls in the golden age. It is now that hunchbacks and those with stone intellects and sinful souls such as Ajamil exist. For half a cycle it is called heaven and then devotion begins and your stage of descent begins. You definitely have to fall. From being those of the sun dynasty, you fall and become those of the moon dynasty. Then you continue to fall. Everyone you meet from the copper age onwards brings you down. Only now do you know this. Day by day, you will continue to gain strength. You also have to invent ways of explaining to the sages and holy men. Ultimately, they will definitely understand why the Supreme Father, the Supreme Soul, cannot be omnipresent. There are many points you can use to explain. At first, devotion is unadulterated and then it becomes adulterated; the degrees start to decrease. Now there are no degrees left. It has also been shown in the pictures of the tree and the cycle how the celestial degrees decrease. These are most easy to explain. However, if it is not in your fortune, you are not able to explain them. You do not become soul conscious. You remain trapped in your old bodies. The Father says: Remove all your attachment from your old bodies and consider yourselves to be souls. If you do not become soul conscious you will not be able to claim a high status. A student would not want to remain last all the time. All his friends and relatives, his teacher and fellow students would understand that he does not pay attention to his studies. Here, too, it is understood when someone doesn’t follow shrimat what his condition would be. Everyone can understand who will become subjects and who will become maids and servants. The Father explains: Bring benefit to your friends and relatives. This is a law. When there is an older brother in a home, it is his duty to help the younger one. This is what is meant by “Charity begins at home”. The Father says: Your wealth will not be reduced by donating it. If you don’t donate wealth, you will not receive wealth and you won’t be able to claim a high status. You receive a very good chance. You have to become merciful. You also have to become merciful towards the sannyasis and sages. Say to them: Come and understand. You don’t know your parlokik Father, the One who gives the people of Bharat their inheritance of constant happiness every cycle. No one knows this. People say that even government officers are corrupt, and so who can make them elevated? Nowadays, there is a great deal of regard for the community of sages. When you write to them that the Father has mercy for even them (sages and holy men), they will be amazed. As you go further, your name will be glorified. Many will continue to come to you and there will be many exhibitions. Ultimately, some will definitely wake up. Even sannyasis will wake up. Where else would they go? There is only the one shop. A great deal of improvement will continue to take place. Many good pictures will be made for you to explain, so that anyone can come and study. When the haystack is set ablaze, people will wake up, but it will be too late. The same applies to the children. How far could you run at the end? Even in a race , some run slowly at first. Only a few win a prize. This is also your horse race. Knowledgeable souls are needed to run in this race of the spiritual pilgrimage. To remember the Father is also knowledge, is it not? No one else has this knowledge. It is by having knowledge that human beings become like diamonds and that through their ignorance they become like shells. The Father comes to create your satopradhan reward. Later, this reward will gradually decrease. You should imbibe all of these points and then act. You children have to become great donors. Bharat is called a great donor, because it is here that you surrender your bodies, minds and wealth to the Father. Then the Father also surrenders everything to you. There are many great donors in Bharat. All the rest of human beings are trapped in blind faith. You have come here into God’s asylum. Ravan made you unhappy and so you have taken asylum with Rama (God). All of you were in the cottage of sorrow. You are now to go to the cottage free from sorrow, that is, to heaven. You have taken asylum with the Father who is the Creator of heaven. Some were brought by force in their childhood. They do not experience any happiness in this refuge; it is not in their fortune. They want to take refuge with Maya, Ravan. It is a great wonder that they want to leave God’s asylum and go into the lap of Maya, Ravan. The song “Salutations to Shiva” is very good. You can play this. People don’t understand its meaning. You can say that you can explain its accurate meaning according to shrimat. They simply continue to play with dolls. According to the drama, you also receive help from these songs. If you belong to the Father but don’t become serviceable, how can you sit on His heart throne? Some children become unworthy and cause so much sorrow. Here, if your mother dies, eat halva. Even if your wife dies, eat halva. You would not weep and wail. You have to remain firm on the drama. Mama and Baba will go and the very special children will also go in advance. Each one has to play his part. What is there to worry about? We observe the play as detached observers. Your stage should always remain cheerful. Even Baba has thoughts of concern. The law says that they will definitely come. It is not that Mama and Baba have become complete. The complete stage will come at the end. At present, no one can call himself complete. There was this loss, there was conflict, there were rumours about BKs in the newspapers. All of that also happened a cycle ago. So, what is there to worry about? You will attain your 100% stage at the end. You will be able to climb onto the Father’s heart throne when you become merciful and make others become like yourself. If you insure yourself, that’s a different matter; you do that for yourself. You have to give the donation of these jewels of knowledge to others. If you do not remember the Father fully, the burden of sin on your head will increase. Worthy ones are needed in order to explain at the exhibitions. They have to be clever. There is great pleasure in having remembrance at night. You have to remember that spiritual Bridegroom in the early hours of the morning. Baba, You are so sweet! Just see what I was and what You are making me! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep your heart constantly true. Always speak the truth and remain constantly true in everything. Do not become body conscious and consider yourself to be very clever. Never become arrogant.
  2. Become a detached observer and observe the play. Remain firm on the drama. Never worry about anything. Keep your stage constantly cheerful.
Blessing: May you take benefit from remaining aware of your promises and be constantly worthy of receiving blessing s .
Whatever promises you make in your mind, words or writing keep them in your awareness and you will be able to take full benefit of those promises. Check how many times you made a promise and how much you fulfilled it. Let there be a balance of both the promises and their benefit and you will continue to receive blessings from the Father, the Bestower of Blessings. Just as you have elevated thoughts, similarly, let your deeds also be elevated and you will become an embodiment of success.
Slogan: Make yourself into such a divine mirror that only the Father is visible and that will then be called true service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 November 2018

To Read Murli 26 November 2018 :- Click Here
27-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – तुम्हें बाप समान मुरलीधर जरूर बनना है, मुरलीधर बच्चे ही बाप के मददगार हैं, बाप उन पर ही राज़ी होता है
प्रश्नः- किन बच्चों की बुद्धि बहुत-बहुत निर्मान हो जाती है?
उत्तर:- जो अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान कर सच्चे फ्लैन्थ्रोफिस्ट बनते हैं, होशियार सेल्समैन बन जाते हैं उनकी बुद्धि बहुत-बहुत निर्मान हो जाती है। सर्विस करते-करते बुद्धि रिफाइन हो जाती है। दान करने में कभी भी अभिमान नहीं आना चाहिए। हमेशा बुद्धि में रहे कि शिवबाबा का दिया हुआ दे रहे हैं। शिवबाबा की याद रहने से कल्याण हो जायेगा।
गीत:- तुम्हीं हो माता…….. 

ओम् शान्ति। सिर्फ मात-पिता वाला गीत सुनाने से नाम सिद्ध नहीं होता है। पहले शिवाए नम: का गीत सुनकर फिर मात-पिता वाला सुनाने से नॉलेज का पता पड़ता है। मनुष्य तो मन्दिरों में जाते हैं, लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जायेंगे, कृष्ण के मन्दिर में जायेंगे, सबके आगे तुम मात-पिता…….. कह देते हैं, बिगर अर्थ। पहले शिवाए नम: वाला गीत सुनाए फिर मात-पिता वाला सुनाने से महिमा का पता पड़ता है। नया कोई भी आये तो यह गीत अच्छे हैं। समझाने में सहज होता है। बाप का नाम ही है शिव, ऐसे तो नहीं कहेंगे शिव सर्वव्यापी है। फिर तो सबकी महिमा एक हो जाए। उनका नाम ही है शिव। दूसरा कोई अपने पर शिवाए नम: नाम रखा न सके। उनकी मत और गत सब मनुष्य मात्र से न्यारी है। देवताओं से भी न्यारी है। यह नॉलेज सिखलाने वाला मात-पिता ही है। सन्यासियों में तो माता है नहीं इसलिए वह राजयोग सिखला न सकें। शिवाए नम: तो कोई को भी कह नहीं सकते। देहधारी को शिवाए नम: थोड़ेही कहेंगे। यह समझाने का है। परन्तु तुम बच्चों में भी नम्बरवार हैं। कहाँ अच्छे-अच्छे बच्चे भी प्वाइन्ट्स मिस कर देते हैं। मियां मिट्ठू तो अपने को बहुत समझते हैं। इसमें दिल की सफाई चाहिए। हर बात में सच बोलना, सच होकर रहना है – टाइम लगता है। देह-अभिमान में आने से फिर फैमिलियरटी आदि सब बातें आ जाती हैं। अभी ऐसे कोई कह नहीं सकता कि हम देही-अभिमानी हैं, फिर तो कर्मातीत अवस्था हो जाए। नम्बरवार हैं। कोई तो बहुत कपूत बच्चे हैं। मालूम पड़ जाता है, कौन बाबा की सर्विस करते हैं। जब शिवबाबा की दिल पर चढ़ें तब रुद्र माला के नजदीक हों और तख्त के लायक बनें। लौकिक बाप की दिल पर भी सपूत बच्चे ही चढ़ते हैं, जो बाप के साथ मददगार बन जाते हैं। यह भी बेहद के बाप का अविनाशी ज्ञान रत्नों का धन्धा है। तो धन्धे में मदद देने वाले पर बाप भी राज़ी रहेगा। अविनाशी ज्ञान रत्न धारण कर और धारण कराने हैं। कोई समझते हैं हमने इन्श्योर किया है। उसका तो तुमको मिल जायेगा। यहाँ तो बहुतों को दान करना है, बाप मुआफिक अविनाशी ज्ञान रत्नों का फ्लैन्थ्रोफिस्ट बनना है। बाप आते ही हैं ज्ञान रत्नों से झोली भरने, धन की बात नहीं। बाप को सपूत बच्चे ही पसन्द होते हैं। व्यापार करना नहीं जानते तो वह मुरलीधर, सौदागर का बच्चा कहला कैसे सकते? लज्जा आनी चाहिए, मैं धन्धा तो करता नहीं हूँ। सेल्समैन जब होशियार देखा जाता है तो फिर उनको भागीदार बनाया जाता है। ऐसे ही थोड़ेही भागीदारी मिल जाती है। इस धन्धे में लग जाने से फिर बहुत निर्मान बुद्धि हो जाती है। सर्विस करते-करते बुद्धि रिफाइन होती है। बाबा-मम्मा अपना अनुभव सुनाते हैं। बाबा है सिखलाने वाला, यह तो जानते हो यह बाबा अच्छी धारणा कर अच्छी मुरली सुनाते हैं। अच्छा, समझो इसमें शिवबाबा है, वह तो है ही मुरलीधर परन्तु यह बाबा भी तो जानता है ना। नहीं तो इतना पद कैसे पाते? बाबा ने समझाया है कि हमेशा समझो शिवबाबा सुनाते हैं। शिवबाबा की याद रहने से तुम्हारा भी कल्याण हो जायेगा। इनमें तो शिवबाबा आते हैं। वह मम्मा अलग बोलती है, मम्मा की हैंसियत में। उनका नाम बाला करना है क्योंकि फीमेल को लिफ्ट दी जाती है। कहते हैं ना जैसी है, वैसी है, मेरी है, सम्भालना ही है। पुरुष लोग ही ऐसे कहते हैं। स्त्री ऐसे नहीं कहती, जैसे हैं, वैसे हैं……..। बाप भी कहते बच्चे जैसे हो, वैसे हो, सम्भालना ही है। नाम भी बाला बाप का ही होता है। यहाँ बाप का नाम तो बाला है ही। फिर शक्तियों का नाम बाला होता है। उन्हों को सर्विस का अच्छा चांस मिलता है। दिन-प्रतिदिन सर्विस बहुत सहज हो जानी है। ज्ञान और भक्ति, दिन और रात, सतयुग-त्रेता दिन, वहाँ है सुख, द्वापर-कलियुग है रात, दु:ख। सतयुग में भक्ति होती नहीं। कितना सहज है। परन्तु तकदीर में नहीं है तो धारणा नहीं कर सकते। प्वाइन्ट्स तो बहुत सहज मिलती हैं। मित्र-सम्बन्धियों के पास जाकरके समझाओ, अपने घर को उठाओ। तुम तो गृहस्थ व्यवहार में रहने वाले हो, तो बहुत सहज रीति से कोई को भी समझा सकते हो। सद्गति दाता तो एक ही पारलौकिक बाप है। वही शिक्षक भी है, सद्गुरू भी है। बाकी सब बरोबर दुर्गति करते आये हैं, द्वापर से लेकर। भ्रष्टाचारी, पाप आत्मायें कलियुग में हैं। सतयुग में पाप आत्मा का नाम नहीं, यहाँ ही अजामिल, गणिकायें, अहिल्यायें, पाप आत्मायें हैं। आधाकल्प स्वर्ग कहा जाता है। फिर भक्ति शुरू होती है तो गिरना शुरू हो जाता है। गिरना भी है जरूर। सूर्यवंशी गिरकर चन्द्रवंशी बनते हैं। फिर गिरते ही आयेंगे। द्वापर से सब गिराने वाले ही मिलते आये हैं। यह भी तुम अभी जानते हो। दिन-प्रतिदिन तुम्हारे में ताकत आती जायेगी। साधुओं आदि को समझाने के लिए भी युक्तियाँ निकालते रहते हैं। आखरीन समझेंगे जरूर कि बरोबर परमपिता परमात्मा सर्वव्यापी कैसे हो सकता है? समझाने लिए प्वाइन्ट्स बहुत हैं। भक्ति पहले अव्यभिचारी फिर व्यभिचारी बनती है। कलायें कम होती हैं। अभी कोई कला नहीं रही है। झाड़ व गोले में भी दिखाया है कि कलायें कैसे कम होती हैं? मोस्ट इज़ी है समझाना, परन्तु तकदीर में नहीं है तो समझा नहीं सकते। देही-अभिमानी बनते नहीं हैं। पुरानी देह में अटके रहते हैं। बाप कहते हैं – इस पुरानी देह से ममत्व तोड़ अपने का आत्मा समझो। देही-अभिमानी नहीं बनेंगे तो पद भी ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। स्टूडेन्ट ऐसे थोड़ेही चाहेंगे कि लास्ट में बैठे रहें। मित्र-सम्बन्धी, टीचर, स्टूडेन्ट आदि सब समझ जायेंगे, इनका पढ़ाई में ध्यान नहीं है। यहाँ भी समझते हैं श्रीमत पर नहीं चलते हैं तो फिर यही हाल होगा। कौन प्रजा बनेंगे, कौन दास दासी, सब समझ जाते हैं। बाप समझाते हैं अपने मित्र-सम्बन्धियों का कल्याण करो। यह कायदा होता है। घर में बड़ा भाई होता है तो छोटे भाई को मदद देना उनका फ़र्ज है – इसको कहा जाता है चैरिटी बिगन्स एट होम। बाप कहते हैं धन दिये धन ना खुटे…….. धन देंगे नहीं तो मिलेगा भी नहीं, पद पा नहीं सकेंगे। चांस बहुत अच्छा मिलता है। रहमदिल बनना है। तुम सन्यासियों, साधुओं पर भी रहमदिल बनते हो। कहते हो आकर समझो। तुम अपने पारलौकिक बाप को नहीं जानते हो, जो बाप भारत को हर कल्प सदा सुख का वर्सा देते हैं। कोई भी जानते नहीं। कहते हैं ऑफीसर्स भी भ्रष्टाचारी हैं, तो फिर श्रेष्ठाचारी कौन बनायेंगे?

आजकल तो साधू समाज का बड़ा मान है। तुम लिखते हो – बाप इन सब पर भी रहम करते हैं, तो वह वन्डर खायेंगे। आगे चल तुम्हारा नाम बाला होगा। तुम्हारे पास बहुत आते रहेंगे। प्रदर्शनी भी होती रहेगी। आखरीन कोई जागेंगे जरूर। सन्यासी लोग भी जागेंगे। जायेंगे कहाँ, एक ही हट्टी है। बड़ी इप्रूवमेंट होती रहेगी। अच्छे-अच्छे चित्र निकलेंगे समझाने के लिए, जो कोई भी आकर पढ़े। जब भंभोर को आग लगेगी तब मनुष्य जागेंगे, परन्तु टू लेट। बच्चों के लिए भी ऐसा है। पिछाड़ी में कितना दौड़ सकेंगे। रेस में भी कोई पहले आहिस्ते-आहिस्ते दौड़ते हैं। विन की प्राइज थोड़ों को ही मिलती है। यह तुम्हारी भी घुड़दौड़ है। रूहानी यात्रा की दौड़ी पहनाने के लिए भी ज्ञानी तू आत्मा चाहिए। बाप को याद करो, यह भी ज्ञान है ना। यह ज्ञान और किसको नहीं है। ज्ञान से मनुष्य हीरे जैसे बनते हैं। अज्ञान से कौड़ी जैसे बनते हैं। बाप आकर सतोप्रधान प्रालब्ध बनाते हैं। फिर वह थोड़ी-थोड़ी होकर कमती होती जाती है। यह सब प्वाइन्ट्स धारण कर एक्ट में आना है। तुम बच्चों को महादानी बनना है। भारत को महादानी कहते हैं क्योंकि यहाँ ही तुम बाप के आगे तन-मन-धन सब अर्पण करते हो। तो बाप भी फिर सब कुछ अर्पण कर देते हैं। भारत में बहुत ही महादानी हैं। बाकी मनुष्य सब अन्धश्रधा में फँसे हुए रहते हैं। यहाँ तो तुम ईश्वर की शरणागति में आये हो। रावण से दु:खी हो आकर राम की एशलम ली है। तुम सब शोक वाटिका में थे। अब फिर अशोक वाटिका में अर्थात् स्वर्ग में चलना है। स्वर्ग स्थापन करने वाले बाप की शरणागति ली है। कोई तो छोटेपन में ही जबरदस्ती आ गये हैं, तो उन्हों को यहाँ शरणागति में सुख नहीं आता। तकदीर में नहीं है, उन्हों को माया रावण की शरण चाहिए। ईश्वर की शरणागति से निकल कर माया की शरण में जाना चाहते हैं। आश्चर्य की बात है ना।

यह शिवाए नम: वाला गीत अच्छा है। तुम बजा सकते हो। मनुष्य तो इसका अर्थ समझ न सकें। तुम कहेंगे हम श्रीमत पर यथार्थ अर्थ समझा सकते हैं। वह तो गुड़ियों का खेल करते हैं। ड्रामा अनुसार इन गीतों की भी मदद मिलती है। बाप का बनकर और सर्विसएबुल न बना तो दिल पर कैसे चढ़ सकते हैं। कई बच्चे कपूत बन पड़ते हैं तो कितना न दु:ख देते हैं। यहाँ तो अम्मा मरे तो हलुआ खाओ, बीबी मरे तो भी हलुआ खाओ, रोयेंगे पीटेंगे नहीं। ड्रामा पर मजबूत रहना चाहिए। मम्मा-बाबा भी जायेंगे, अनन्य बच्चे भी एडवान्स में जायेंगे। पार्ट तो बजाना ही है। इसमें फिक्र की क्या बात है? साक्षी होकर हम खेल देखते हैं। अवस्था सदैव हर्षित रहनी चाहिए। बाबा को भी ख्यालात आते हैं, लॉ कहता है आयेंगे जरूर। ऐसे नहीं कि मम्मा-बाबा कोई परिपूर्ण हो गये हैं। परिपूर्ण अवस्था अन्त में होगी। इस समय कोई भी अपने को परिपूर्ण कह न सके। यह नुकसान हुआ, कोई खिटपिट हुई, अखबार में बी.के. के लिए हाहाकार हुआ, यह सब भी कल्प पहले हुआ था। फिक्र की क्या बात, 100 परसेन्ट अवस्था अन्त में होनी है। बाप की दिल पर तब चढ़ेंगे जब रहमदिल बनेंगे, आपसमान बनायेंगे। इन्श्योर किया वह बात अलग है। वह तो अपने लिए ही करते हैं। यह तो ज्ञान रत्नों का दान औरों को देना है। बाप को पूरा याद नहीं करेंगे तो विकर्मों का बोझा जो सिर पर है, वह खुल पड़ेगा। प्रदर्शनी में भी समझाने वाले लायक चाहिए। होशियार बनना चाहिए। मजा आता है रात को याद करने में। इस रूहानी साजन को फिर प्रभात में याद करना है। बाबा आप कितने मीठे हो, क्या से क्या बना रहे हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) दिल से सदा सच्चा रहना है। सच बोलना है, सच होकर चलना है। देह-अभिमान के वश स्वयं को मियां मिट्ठू नहीं समझना है। अहंकार में नहीं आना है।

2) साक्षी होकर खेल देखना है। ड्रामा पर मजबूत रहना है। किसी भी बात का फिक्र नहीं करना है। अवस्था सदा हर्षित रखनी है।

वरदान:- वायदों की स्मृति द्वारा फ़ायदा उठाने वाले सदा बाप की ब्लैसिंग के पात्र भव
जो भी वायदे मन से, बोल से अथवा लिखकर करते हो, उन्हें स्मृति में रखो तो वायदे का पूरा फायदा उठा सकते हो। चेक करो कि कितने बार वायदा किया है और कितना निभाया है! वायदा और फ़ायदा – इन दोनों का बैलेन्स रहे तो वरदाता बाप द्वारा ब्लैसिंग मिलती रहेगी। जैसे संकल्प श्रेष्ठ करते हो ऐसे कर्म भी श्रेष्ठ हों तो सफलता मूर्त बन जायेंगे।
स्लोगन:- स्वयं को ऐसा दिव्य आइना बनाओ जिसमें बाप ही दिखाई दे तब कहेंगे सच्ची सेवा।
Font Resize