27 may ki murli

TODAY MURLI 27 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

27/05/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the time of destruction is now very close. Therefore, have true love for the one Father and not for any bodily beings.
Question: What are the signs of children who have true love for the one Father?
Answer: 1. The yoga of their intellects cannot go towards bodily beings. They do not become lovers or beloveds of one another. 2. Those who have true love are constantly victorious; to be victorious means to become an emperor or empress of the golden age. 3. Those who have loving intellects remain constantly honest with the Father; they do not hide anything. 4. They wake up at amrit vela every day and remember the Father with love. 5. They give their bones for service like Dadichi Rishi did. 6. Their intellects do not wander to worldly matters.
Song: Neither will He become separated from us nor will there be sorrow in our hearts.

Om shanti. The mouth-born creation, the decoration of the Brahmin clan, make this promise because their love is connected to the one Father. You understand that this is the time of destruction. The Father explains to you children that destruction has to take place. Those whose love is connected to the Father at the time of destruction become victorious, that is, they become the masters of the golden age. Shiv Baba has explained to you that both the kings and the subjects become the masters of the world, but there is a lot of difference in the position. The more love you have for the Father and the more you remember Him, the higher the status you will claim. Baba has explained that it is only by remembering the Father that your burden of sins will be burnt away. You can write that those who have non-loving intellects at the time of destruction will be led to destruction. There is no question of fear about writing this. The Father says: I, Myself, tell you that they will be led to destruction and that those who have loving intellects will be victorious. Baba tells you everything absolutely clearly. No one in the world except you children has love. The Father says: Children, write the different praise of the Supreme Soul and Shri Krishna separately so that it can be proved who is the God of the Gita. This is essential, is it not? Secondly, Baba asks: Is the Purifier the Ocean of Knowledge, the Supreme Soul, or is it river water? Is it the Ganges of Knowledge or the Ganges of water? This is very easy. Thirdly, when you hold an exhibition, you should first of all send invitations to those at the Gita Pathshalas. There are many of them. You should especially invite them. You should first invite those who study the Shrimad Bhagawad Gita because they are the ones who have forgotten and who also make everyone else forget. You should invite them to come and judge for themselves and then do whatever they feel is right. People will then be able to understand that we even invite those who study the Gita and that, perhaps, we are only preaching the Gita. Heaven was established through the Gita. There is a lot of praise of the Gita, but not the Gita of the path of devotion. The Father says: I only tell you the truth and nothing but the truth. Whatever interpretations people have given are all completely wrong. No one else speaks the truth. Only I tell you the truth. It isn’t the truth to say that God is omnipresent. All of them will be led to destruction and it will continue to happen like that every cycle. This is the first and foremost thing you have to explain. The Father says: The Yadavas (scientists) have non-loving intellects. They are making very good preparations for destruction. However, those with stone intellects are not able to understand anything. You too had stone intellects and you now have to become those with divine intellects. It is a wonder how you had divine intellects and how you have now become those with stone intellects. The Father is called the Knowledge-full and Merciful One. How would those who don’t know how to benefit themselves benefit others? Those who don’t imbibe knowledge will claim a status accordingly. Only those who are serviceable will claim a high status. It is they whom the Father loves. It is numberwise according to the efforts you make. They don’t understand that, since they don’t love the Father, they won’t receive a status. Whether they are real children or stepchildren, if they don’t have loving intellects at the time of destruction, if they don’t follow the Father, they will receive a low status. They also need divine virtues. You should never tell lies. The Father says: I tell you the truth. Anyone who doesn’t love Me will not receive a status. You have to try and claim your full inheritance for 21 births. First of all, invite those from the Gita Pathshalas to the melas and exhibitions because they are devotees. Those who study the Gita must definitely be remembering Krishna; but they don’t understand anything. Krishna played the flute, so where did Radhe go? They have given a veena to Saraswati and a flute to Krishna. People say that Allah created them, but they don’t know Allah. This refers to Bharat. There used to be the kingdom of deities in Bharat. Their images are worshipped in the temples. They place statues of the kings etc. outside. Birds sit on them and dirty them with their droppings. They position Lakshmi and Narayan and Radhe and Krishna in such a first-class place! They are called the emperor and empress. The word “king” is an English word. They spend hundreds of thousands on building a temple because that emperor was pure. The king, queen and subjects were all worthy of worship. It is you who become worthy of worship and then worshippers. So, the first thing is to remember the Father. When you have the practice of remembering the Father, you will be able to imbibe this knowledge. When there isn’t love for the One, your love is connected to other beings. There are some daughters who have so much love for one another that they don’t even have as much love for Shiv Baba! Shiv Baba says: You have to connect your intellects in yoga to Me. Or, do you have to become lovers and beloveds of one another? You then completely forget Me. You have to connect your intellects in yoga to Me. This requires effort. Your intellects do not break away from others at all. Instead of remembering Shiv Baba, you remember one another all day and night. When Baba mentions their names, they become traitors. It doesn’t then take them long to start insulting Baba. When you insult this Baba, Shiv Baba also very soon hears it. If you don’t study with Brahma, you cannot study with Shiv Baba. Without Brahma, Shiv Baba cannot even hear you. This is why He tells you to go and ask physical Baba. Some good children don’t accept Brahma Baba because they feel that he too is an effort-maker. All are effort-makers but you have to follow the mother and father. Some understand when you explain to them, whereas if some don’t have it in their fortune, they don’t understand at all; they don’t become serviceable. However, you must connect your intellects to the one Father. Many have emerged nowadays who say that Shiv Baba enters them. You have to be very cautious about this. Maya enters many of them. Even those in whom Shri Narayan used to come are not here today. Nothing happens by them just entering you. The Father says: Constantly remember Me alone. When they say that this one or that one enters them, it is Maya. If you don’t remember Me, what would you attain? How would you be able to claim a status or imbibe knowledge if you don’t have direct yoga with the Father? The Father says: Constantly remember Me alone. I explain to you through Brahma alone. Establishment takes place through Brahma. The Trimurti is also definitely needed. Some get angry when they see the picture of Brahma. They get angry when they hear of the 84 births of Krishna. They even tear up the picture. The Father has had those pictures made. The Father explains to you children: Don’t forget, simply continue to remember the Father. Even those who are in bondage mustn’t cry in distress. Stay at home and continue to remember the Father. Those who are in bondage can attain an even higher status. It is only the Ocean of Knowledge who gives you children this knowledge. No one but the one Father has spiritual knowledge. Only the one Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge. Only He is called the Liberator. What is there to be afraid of in this? The Father explains to you children and you then have to explain to others. The Father says: Remember Me and you will receive salvation. The kingdom of Rama (God) is in the golden age, not the iron age. There is just one kingdom in the golden age. You are all numberwise in how your intellects imbibe all of these things. Those who are unable to imbibe knowledge are said to have non-loving intellects at the time of destruction and are unable to claim a status. Everyone has to be destroyed. These things are not a small matter! Shiv Baba says: Become those who have loving intellects at the time of destruction. This is your final birth. Therefore, if you don’t have love now, you won’t receive a status. The Lord is pleased with an honest heart. Give your bones for service just as Dadichi Rishi did. When there are bad omens over them, their intoxication goes and then many types of storm continue to come. They then say that it would be better to go back to their worldly parents, because they don’t enjoy it here any more. There are many plays, films etc. there. Those who are used to all of those things are unable to stay here. It is very difficult for them. Yes, it is possible to claim a high status by making effort. You should remain happy. Baba himself says: I don’t enjoy it if I don’t get up early in the morning and sit in remembrance. By simply lying in bed, it’s possible that you would nod off. When you sit down in remembrance, many good points will emerge and there will be a lot of enjoyment. Only a few more days now remain. We are claiming the sovereignty of the world from the Father. If you sit and remember this, your mercury of happiness will rise. When you think about these things in the morning, that happiness will also last throughout the day. If there isn’t happiness, your intellect definitely isn’t loving to the Father. At amrit vela, there is very good solitude, and so, the more you remember the Father, the higher your mercury of happiness will rise. There are bad omens in this study when you forget the Father. If you want to claim the inheritance from the Father, serve with your thoughts, words and deeds. Spend this last birth of yours doing this service. If you remain occupied in other, worldly matters, when could you do this service? By leaving everything till tomorrow, you would die and be unable to do anything. The Father has come just to take you to heaven. So many die here in a war and so many experience sorrow. There is no war etc. there. All of that refers to the final time when everything has to be destroyed. Those who are orphans will die in this way and those who belong to the Lord and Master will claim their fortune of the kingdom. You also have to explain at the exhibitions that you are establishing your own kingdom with your own earnings and with your body, mind and wealth. We are not begging for anything because there is no need for it. Many of us brothers and sisters are establishing our kingdom together. You accumulate millions and bring about your own destruction whereas we are accumulating every penny and becoming the masters of the world. These are such wonderful matters! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. At amrit vela, sit in solitude and remember the Father with love. Put aside all worldly matters and engage yourself in God’s service.
  2. Keep your heart true to the Father. Don’t become a lover or beloved of one another. Connect your love to the one Father and not to any bodily beings.
Blessing: May you become an easy effort-maker by knowing the meaning of the word “swarth” (swa – self, rath – chariot) and always remain in a constant and stable stage.
Nowadays, the attachment that people have for one another is not out of love but out of selfishness. There is attachment because of selfishness and, because of that attachment, they are unable to remain detached. Therefore, stabilise yourself in the meaning of the word “swarth”, that is, first of all, sacrifice the chariot of the self. When that “swarth” goes, you become detached. By knowing the meaning of this one word, you will constantly belong to One and become constant and stable. This is easy effort.
Slogan: By staying in your angelic form, no obstacle can make an impact on you.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

27-05-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अभी विनाश का समय बहुत समीप है इसलिए एक बाप से सच्ची प्रीत रखो, किसी देहधारी से नहीं”
प्रश्नः- जिन बच्चों की सच्ची प्रीत एक बाप से होगी उनकी निशानियाँ क्या होंगी?
उत्तर:- 1- उनका बुद्धियोग किसी भी देहधारी के तरफ जा नहीं सकता। वह आपस में एक दो के आशिक – माशूक नहीं बनेंगे। 2- जिनकी सच्ची प्रीत है वह सदा विजयी बनते हैं। विजयी बनना अर्थात् सतयुग का महाराजा-महारानी बनना। 3- प्रीत बुद्धि सदा बाप के साथ सच्चे रहते हैं। कुछ भी छिपा नहीं सकते। 4- रोज़ अमृतवेले उठ प्यार से बाप को याद करेंगे। 5- दधीचि ऋषि की तरह सर्विस में हड्डियाँ देंगे। 6- उनकी बुद्धि दुनियावी बातों में भटक नहीं सकती।
गीत:- न वह हमसे जुदा होंगे… Audio Player

ओम् शान्ति। यह ब्रह्मा मुख वंशावली, ब्राह्मण कुल भूषण प्रतिज्ञा करते हैं क्योंकि उनकी प्रीति एक बाप से जुटी हुई है। तुम जानते हो – यह विनाश का समय है। बाप बच्चों को समझाते हैं कि विनाश तो होना ही है। विनाश काले जिनकी प्रीत बाप के साथ होगी, वही विजय पायेंगे अर्थात् सतयुग के मालिक बनेंगे। शिवबाबा ने समझाया है – विश्व का मालिक तो राजा भी बनते हैं तो प्रजा भी बनती है, परन्तु पोजीशन में बहुत फ़र्क है। जितना बाप से प्रीत रखेंगे, याद में रहेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। बाबा ने समझाया है – बाप की याद से ही तुम्हारे विकर्मों का बोझा भस्म होगा। तुम लिख सकते हो कि विनाश काले विपरीत बुद्धि… यह लिखने में कोई डर की बात ही नहीं है। बाप कहते हैं – मैं खुद कहता हूँ कि उनका विनाश होगा और प्रीत बुद्धि वालों की विजय होगी। बाबा बिल्कुल क्लीयर कह देते हैं। इस दुनिया में प्रीत तो कोई की है नहीं। तुम्हारी ही प्रीत है। बाबा कहते – बच्चे, परमात्मा और श्रीकृष्ण की महिमा अलग-अलग लिखो तो सिद्ध हो जाए कि गीता का भगवान कौन? यह तो जरूरी है ना। दूसरा बाबा समझाते हैं – ज्ञान का सागर, पतित-पावन परमपिता या पानी की नदियाँ? ज्ञान गंगा वा पानी की गंगा? यह तो बहुत सहज है। दूसरी बात – जब प्रदर्शनी करते हो तो सबसे पहले निमन्त्रण देना चाहिए, गीता पाठशाला वालों को। वह तो ढेर हैं। उन्हों को खास निमन्त्रण देना चाहिए। जो श्रीमत भगवत गीता का अभ्यास करते हैं, उनको पहले निमन्त्रण देना चाहिए क्योंकि वही भूले हुए हैं और सभी को भुलाते रहते हैं। उनको बुलाना चाहिए कि अब आकर जज करो फिर जो समझ में आये सो करना। तो मनुष्य भी समझें – यह गीता वालों को बुलाते हैं। शायद इन्हों का गीता पर ही प्रचार है। गीता से ही स्वर्ग की स्थापना हुई है। गीता की बहुत महिमा है परन्तु भक्ति मार्ग की गीता नहीं। बाप कहते हैं – मैं तुम्हें सत्य ही सत्य बताता हूँ। मनुष्य जो अर्थ करते हैं वह बिल्कुल रांग हैं। कोई भी सत्य नहीं कहते, मैं ही सत्य बताता हूँ। परमात्मा को सर्वव्यापी कहना भी सत्य नहीं है, यह सब विनाश को प्राप्त होंगे और कल्प-कल्प होते भी हैं। तुमको पहली-पहली मुख्य बात यह समझानी है। बाप कहते हैं – यूरोपवासी यादवों की है विनाश काले विपरीत बुद्धि। विनाश के लिए अच्छी रीति तैयारियाँ कर रहे हैं परन्तु पत्थरबुद्धि समझ नहीं सकते हैं। तुम भी पत्थरबुद्धि थे, अब पारसबुद्धि बनना है। पारसबुद्धि थे फिर पत्थरबुद्धि कैसे बने हैं! यह भी वन्डर है। बाप को कहा ही जाता है नॉलेजफुल, मर्सीफुल। बाकी जो अपना ही कल्याण करने नहीं जानते, वह दूसरों का कल्याण कैसे करेंगे! जो नॉलेज ही धारण नहीं करते तो पद भी ऐसा पाते हैं, जो सर्विसएबुल हैं वही ऊंच पद पायेंगे। उनको ही बाप प्यार भी करते हैं। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार होते ही हैं। कई तो यह भी समझते नहीं कि हमारी बाप से प्रीत नहीं है तो पद भी नहीं मिलेगा। चाहे सगे बनें वा सौतेले बनें, विनाश काले प्रीत बुद्धि नहीं होगी, बाप को फालो नहीं करेंगे तो जाकर कम पद पायेंगे। दैवीगुण भी चाहिए। कभी झूठ नहीं बोलना चाहिए। बाप कहते हैं – मैं सत्य कहता हूँ, जो मेरे से प्रीत नहीं करते तो पद भी नहीं मिलेगा। कोशिश कर 21 जन्म का पूरा वर्सा लेना है। तो प्रदर्शनी, मेले पर पहले-पहले गीता पाठशाला वालों को निमन्त्रण देना है क्योंकि वो भक्त ठहरे ना। गीता-पाठी जरूर कृष्ण को याद करते होंगे परन्तु समझते कुछ नहीं हैं। कृष्ण ने मुरली बजाई, राधे फिर कहाँ गई। सरस्वती को बैन्जो दे दिया है, मुरली फिर कृष्ण को दे दी है। मनुष्य कहते हैं – हमको अल्लाह ने पैदा किया, परन्तु अल्लाह को जानते नहीं। भारत की ही बात है। भारत में ही देवताओं का राज्य था, उन्हों के चित्र मन्दिरों में पूजे जाते हैं। बाकी किंग्स आदि के स्टैच्यु तो बाहर लगा देते हैं, जिस पर पंछी आदि किचड़ा डालते रहते हैं। लक्ष्मी-नारायण, राधे-कृष्ण आदि को कितना फर्स्टक्लास जगह पर बिठाते हैं। उन्हों को महाराजा-महारानी कहते हैं, किंग अंग्रेजी अक्षर है। कितना लाखों रूपया खर्च कर मन्दिर बनाते हैं क्योंकि वह महाराजा पवित्र थे। यथा राजा-रानी तथा प्रजा सब पूज्य हैं। तुम ही पूज्य फिर पुजारी बनते हो। तो पहली बात है, बाप को याद करो। बाप को याद करने का अभ्यास करने से धारणा होगी। एक के साथ प्रीत नहीं है तो फिर और और के साथ लग जाती है। ऐसी-ऐसी बच्चियाँ हैं, जो एक दो को इतना प्यार करती हैं जो शिवबाबा को भी इतना नहीं करती। शिवबाबा कहते हैं – तुमको बुद्धियोग मेरे साथ लगाना है या एक दो में आशिक-माशूक बन जाना है! फिर मेरे को बिल्कुल ही भूल जाते हैं। तुमको तो बुद्धियोग मेरे साथ जोड़ना है, इसमें मेहनत लगती है। बुद्धि टूटती ही नहीं है। शिवबाबा के बदले, दिन-रात एक दो को ही याद करते रहते हैं। बाबा नाम सुनाये तो ट्रेटर बन जाते हैं, फिर गाली देने में भी देरी नहीं करते। इस बाबा को गाली दी तो शिवबाबा भी झट सुन लेगा। ब्रह्मा से नहीं पढ़े तो शिवबाबा से पढ़ न सके। ब्रह्मा बिगर तो शिवबाबा भी सुन न सके, इसलिए कहते हैं साकार से जाकर पूछो। कई अच्छे-अच्छे बच्चे हैं जो साकार को मानते ही नहीं। समझते हैं – यह तो पुरूषार्थी हैं। पुरूषार्थी तो सब हैं परन्तु तुमको फालो तो माँ-बाप को ही करना है। कोई तो समझाने से समझ जाते हैं, कोई की तकदीर में नहीं है तो समझते नहीं। सर्विसएबुल बनते नहीं। परन्तु बुद्धि एक बाप से रखनी होती है। बहुत आजकल निकले हैं जो कहते हैं मेरे में शिवबाबा आते हैं, इसमें बड़ी सम्भाल चाहिए। माया की बहुत प्रवेशता होती है, जिनमें आगे श्री नारायण आदि आते थे, वह भी आज हैं नहीं। सिर्फ प्रवेशता से कुछ होता नहीं है। बाप कहते हैं – मामेकम् याद करो। बाकी मेरे में यह आता है, वह आता है… यह सब माया है। मेरी याद ही नहीं होगी तो प्राप्ति क्या होगी, जब तक बाप से सीधा योग नहीं रखेंगे तो पद कैसे पायेंगे, धारणा कैसे होगी।

बाप कहते हैं – तुम मामेकम् याद करो। ब्रह्मा द्वारा ही मैं समझाता हूँ, ब्रह्मा द्वारा ही स्थापना हुई है। त्रिमूर्ति भी जरूर चाहिए। कोई तो ब्रह्मा का चित्र देख बिगड़ते हैं। कई फिर कृष्ण के 84 जन्म देख बिगड़ते हैं। चित्र फाड़ भी डालते हैं। अरे यह तो बाप ने चित्र बनवाये हैं। तो बाप बच्चों को समझाते हैं – भूलो मत, सिर्फ बाप को याद करते रहो। बांधेलियों को भी रड़ियाँ नहीं मारनी हैं। घर में बैठे बाप को याद करती रहो। बांधेलियों को तो और ही ऊंच पद मिल सकता है। तुम बच्चों को ज्ञान देने वाला है ही एक ज्ञान सागर। स्प्रीचुअल नॉलेज एक बाप के सिवाए और कोई में है नहीं। ज्ञान का सागर एक परमपिता परमात्मा ही है, उसको ही लिबरेटर कहा जाता है, इसमें डरने की क्या बात है। बाप बच्चों को समझाते हैं, बच्चों को फिर औरों को समझाना है। बाप कहते हैं – मुझे याद करो तो सद्गति को पायेंगे। सतयुग में है राम-राज्य, कलियुग में नहीं है। सतयुग में तो एक ही राज्य है। यह सब बातें तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं, जिनकी बुद्धि में धारण होती हैं, जिनको धारणा नहीं होती है, विनाश काले विपरीत बुद्धि कहेंगे, पद पा नहीं सकेंगे। विनाश तो सबका होना है। यह अक्षर कम है क्या! शिवबाबा कहते हैं – विनाश काले प्रीत बुद्धि बनो। यह तुम्हारा अन्तिम जन्म है, इसमें अगर तुम प्रीत नहीं रखते हो तो पद भी नहीं मिलेगा। सच्चे दिल पर साहेब राज़ी होता है। दधीचि ऋषि मिसल सेवा में हड्डियाँ देनी हैं। कभी कोई पर ग्रहचारी बैठती है तो नशा ही उड़ जाता है फिर अनेक प्रकार के तूफान आते रहते हैं। मुख से कहते इससे तो लौकिक के पास चले जायें, यहाँ तो कोई मज़ा नहीं है। वहाँ तो नाटक, बाइसकोप आदि खूब हैं, जो इन बातों पर हिरे हुए हैं वह यहाँ ठहर न सकें, बड़ा मुश्किल है। हाँ, पुरूषार्थ से ऊंच पद भी पा सकते हैं, खुशी में रहना चाहिए। बाबा खुद कहते हैं – सुबह को उठकर नहीं बैठता हूँ तो मज़ा ही नहीं आता है। लेटे रहने से कभी-कभी झुटका आ जायेगा। उठकर बैठने से अच्छी प्वाइंट्स निकलती हैं, बड़ा मजा आता है।

अभी बाकी थोड़े दिन हैं, हम विश्व की बादशाही ले रहे हैं, बाप से। यह बैठ याद करें तो भी खुशी का पारा चढ़े। सुबह को चिन्तन चलता है तो दिन को भी खुशी रहती है। अगर खुशी नहीं रहती तो जरूर बाप से प्रीत बुद्धि नहीं है। अमृतवेले एकान्त अच्छी होती है, जितना बाप को याद करेंगे उतना खुशी का पारा चढ़ेगा। इस पढ़ाई में ग्रहचारी बैठती है क्योंकि बाप को भूलते हैं। बाप से वर्सा लेना है तो मन्सा-वाचा-कर्मणा सर्विस करनी है। इस सर्विस में ही यह अन्तिम जन्म व्यतीत करना है। अगर और दुनियावी बातों में लग गये तो फिर यह सर्विस कब करेंगे! कल-कल करते मर जायेंगे। बाप आये ही हैं स्वर्ग में ले जाने के लिए। यहाँ तो लड़ाई में कितने मरते हैं, कितनों को दु:ख होता होगा। वहाँ तो लड़ाई आदि होगी नहीं। यह सब पिछाड़ी के हैं, सब खत्म होने हैं। निधनके ऐसे मरेंगे, धनी के जो होंगे वह राज्य भाग्य पायेंगे।

प्रदर्शनी में भी समझाना है कि हम अपनी कमाई से, अपने ही तन-मन-धन से अपना राज्य स्थापन कर रहे हैं। हम भीख नहीं माँगते हैं, जरूरत ही नहीं है। ढेर भाई-बहिन इकट्ठे होकर राजधानी स्थापन करते हैं। तुम करोड़ इकट्ठा कर अपना विनाश करते हो, हम पाई-पाई इकट्ठा कर विश्व का मालिक बनते हैं। कितनी वन्डरफुल बात है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अमृतवेले एकान्त में बैठ बाप को प्यार से याद करना है। दुनियावी बातों को छोड़ ईश्वरीय सेवा में लग जाना है।

2) बाप से सच्ची दिल रखनी है। आपस में एक दो के आशिक-माशूक नहीं बनना है। प्रीत एक बाप से जोड़नी है। देहधारियों से नहीं।

वरदान:- स्वार्थ शब्द के अर्थ को जान सदा एकरस स्थिति में स्थित होने वाले सहज पुरुषार्थी भव
आजकल एक दो में जो लगाव है वह स्नेह से नहीं लेकिन स्वार्थ से है। स्वार्थ के कारण लगाव है और लगाव के कारण न्यारे नहीं बन सकते इसलिए स्वार्थ शब्द के अर्थ में स्थित हो जाओ अर्थात् पहले स्व के रथ को स्वाहा करो। यह स्वार्थ गया तो न्यारे बन ही जायेंगे। इस एक शब्द के अर्थ को जानने से सदा एक के और एकरस बन जायेंगे, यही सहज पुरूषार्थ है।
स्लोगन:- फरिश्ता रूप में रहने से कोई भी विघ्न अपना प्रभाव डाल नहीं सकता।

TODAY MURLI 27 MAY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 May 2020

27/05/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your faith develops with knowledge and yoga, not by having visions. Visions are fixed in the drama, but they don’t benefit anyone.
Question: Although He definitely has magic, what power does the Father not show?
Answer: People believe that, because God is all-powerful, He can bring the dead back to life. However, Baba says: I do not reveal this power, but if someone does intense devotion, I do grant him a vision. This is also fixed in the drama. The Father has the magic of granting visions. This is why some children have visions of Brahma or Shri Krishna while sitting at home.
Song: Who came to the door of my mind early in the morning?

Om shanti. This song is the experience of all the children. There are many gatherings of the truth (satsangs). There are many satsangs especially in Bharat and many opinions and ideas. In fact, those gatherings are not satsangs. There is only this one satsang. There, you would only see the faces of scholars or pundits etc. Your intellects would be pulled to them. However, here, it is a unique aspect. It is only once, at this confluence age, that this satsang takes place. This is a totally new aspect. The unlimited Father doesn’t have a body of His own. He says: I am your incorporeal Shiv Baba. When you go to other satsangs, you only look at the bodies. You remember the scriptures and then relate them. There are many different scriptures that you have been listening to for birth after birth. This here is now something new. You souls understand with your intellects. The Father says: O My long-lost and now-found children! O My saligrams! You children know that Baba taught you through this body 5000 years ago. Your intellects go very far. Baba has now come again. The word “Baba” is so sweet! He is the Mother and Father. Anyone else listening to this would say: I don’t know who their Mother and Father is. He really does grant visions. People become confused by this. They sometimes see Brahma and sometimes Krishna and continue to wonder what that is. While sitting at home, many people have a vision of Brahma. No one worships Brahma; people worship Krishna, etc. Probably, no one even knows Brahma. Prajapita Brahma has come now. This one is Prajapita. The Father sits here and explains that the whole world is impure. Therefore, this one, too, has become impure at the end of his many births. No one is pure. This is why they go to the Kumbhamela and the melas at Haridwar on the River Ganges. They think that by bathing there, they will become pure. However, those rivers are not purifiers. Rivers emerge from the oceans. In fact, you are the Ganges of knowledge. You are given importance. You Ganges of knowledge emerge everywhere. It has been portrayed that the Ganges emerged where an arrow landed. It wasn’t a question of shooting an arrow. You Ganges of knowledge go to many different lands. Shiv Baba says: I am bound by the bondage of the drama. Everyone’s part is fixed. My part too is fixed. People believe that God is so powerful that He can bring the dead back to life. All of those are tall stories. I only come to teach you. What power would I show? Granting visions is also magic. When people do intense devotion, I grant them a vision. For example, I show them the form of Kali; they pour oil over her image. However, such a Kali doesn’t really exist. Many people do a lot of intense devotion of Kali. In fact, Kali is Jagadamba. Kali does not have such a form as the one portrayed. When they do intense devotion, Baba gives them the return of their devotion. By sitting on the pyre of lust, you became ugly. Now, by sitting on the pyre of knowledge, you are becoming beautiful. How could Kali, who has now become Jagadamba, grant visions? She is now here at the end of the last of her many births. Deities do not exist now, so how could they grant visions? The Father explains: I hold the key to granting visions in My hand. I grant them a vision in order to fulfil their desires for a temporary period but none of them can meet Me through that. I only gave the example of Kali, but there are many other examples such as Hanuman and Ganesh etc. Even when the Sikhs do a lot of devotion of Guru Nanak, they can have a vision of him. However, they still continue to come down. Baba tells you children: Look, that one is worshipping Guru Nanak, but I am the One who grants him a vision. How could he grant visions? He does not have the key to grant visions. This Baba (Brahma) says: That Baba (Shiv Baba) gave me a vision of establishment and destruction. However, no one experiences benefit by having a vision. There are many who used to have such visions, but they are no longer here. Many children say: I will develop faith when I have a vision. However, faith isn’t developed by visions. Faith is developed by having knowledge and yoga. I also told you 5000 years ago that it is I who grant you these visions. Meera too had a vision. It was not that that soul went there. No, while sitting somewhere, they can have a vision, but they cannot attain Me through that. The Father says: If you have doubts about anything, ask the Brahmin teachers. You children know that you are numberwise. Rivers too are numberwise. Some are ponds with stagnant water; people still go there with a lot of faith and devotion. That is the blind faith of devotion. Never ask anyone to stop doing their devotion. When they come on to the path of knowledge, they will automatically stop doing devotion. Baba used to be a devotee of Narayan. When he saw in the picture how Lakshmi was massaging Narayan’s feet like a servant, he didn’t like it at all. It is not like that in the golden age. So, I told an artist to liberate Lakshmi from being a servant. Baba was a devotee; he didn’t have knowledge. Everyone is a devotee. We are Baba’s children, we are masters. I also make you children into the masters of Brahmand. He says: I give you your fortune of the kingdom. Have you ever seen such a Baba before? Such a Father has to be remembered very well. You cannot see Him with your physical eyes. You have to have yoga with Him. Remembrance and knowledge are very easy. You have to know the Seed and the tree. You have become part of the corporeal tree from being part of that incorporeal tree. Baba has explained the secret of visions to you. He has also explained the secrets of the tree to you. Baba has explained the philosophy of action, neutral action and sinful action to you as well. You receive teachings from all three: the Father, the Teacher and the Guru. Baba says: I now give you such teachings and teach you such actions that you become ever happy for 21 births. A teacher gives you teachings and a guru teaches purity and also tells you religious stories, but there is no knowledge imbibed at all. Here, the Father says: Your final thoughts lead you to your destination. When people are about to die, they are told to chant the name of Rama, so that their intellects go to Him. The Father now says: Your yoga with corporeal beings has now been broken. I am now teaching you very good actions. Look at the picture of Shri Krishna: he is shown coming into the new world and kicking the old world away. You too are kicking the old world away and going to the new world. Therefore, your feet are towards hell and your faces are towards heaven. When a corpse is taken to a cremation ground, its face is turned in that direction and the feet in the other direction. This picture has been created in the same way. There are only Mama and Baba and you children. You have to follow Mama and Baba so that you can claim their throne. The children of a king are called princes and princesses. You children know that you are to become the future princes and princesses. Is there any other father, teacher or guru who could teach you such actions? You become happy for all time. This is a boon from Shiv Baba. He grants you this blessing. It is not that we have His mercy. Nothing happens just by asking for something. You have to learn everything. You do not become something just by being given blessings. Follow His directions. Imbibe knowledge and yoga. The Father explains: To chant, “Rama, Rama,” with your mouth is just to make noise; you have to go totally beyond sound. You have to remain silent. Many good plays are also created. Those who are not educated are said to be buddhus (innocent fools). Baba says: Now forget everyone and become a complete buddhu. Follow the directions I give you. You souls reside bodiless in the supreme abode. Then, when you come here and adopt bodies, you are called living beings. The soul says: I am to leave this body and take my next one. The Father says: I teach you first-class actions. When the Teacher teaches you, that is not a matter of revealing power. When He grants you a vision, that is called magic. No one else can perform the magic of changing human beings into deities. Baba is also the Businessman; He exchanges all your old things for new. This one is called an old iron pot; he has no value. Coins now aren’t even made of copper. However, there, there will be gold coins. It is a wonder how everything has changed so much! The Father says: I teach you to perform number one actions. Become “Manmanabhav”! Then, there is also the study through which you become the princes of heaven. The deity religion that has disappeared is now once again being established. People become amazed when they hear the new things that you speak about. They ask: How is it possible for a husband and wife to live together and yet remain pure? Baba says: You may live together. How else would you come to know? The sword of knowledge has to be kept in between you. So much courage has to be shown. There are tests too. People are amazed about these things, because they are not mentioned in the scriptures. Here, you have to make this effort in a practical way. The aspect of a pure marriage applies here. You are now becoming pure. Therefore, Baba says: Show your courage. The sannyasis have to be shown the proof of this. The Almighty Father purifies the whole world. The Father says: You may live together, but live a pure life. All of these are ways to remain pure. There is a huge attainment through this. You simply have to follow Baba’s directions and remain pure for one birth. You become ever healthy for 21 births through this knowledge and yoga. This does take effort. You are the Shakti Army. You conquer Maya and thus become the conquerors of the world. Not all of you will become this. It is the children that make effort who claim a high status. You purify Bharat and then rule over Bharat. No one can claim sovereignty over the world by battling. This is a wonder. At this time, they all fight one another and destroy themselves. Bharat receives the butter. It is the mothers who are saluted who make this happen. The majority of you are mothers. Baba says: You have been following gurus and studying scriptures for birth after birth. It is now that I explain to you. Judge for yourself what is right! The golden age is the righteous world. Maya makes it unrighteous. The people of Bharat have now become irreligious. No might remains because they have become irreligious. They have become irreligiousunrighteousunlawful and insolvent. Baba is the unlimited Father. He therefore explains these unlimited things to you. He says: I make you once again into the religious and most powerful ones. It is the task of the powerful One to create heaven. However, He is incognito. You are incognito warriors. The Father has a lot of love for you children. He gives you directions. The directions of the Father, the directions of the Teacher, the directions of the Guru, the directions of the Goldsmith and the directions of the Laundryman are all included in these directions. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Follow the Father’s directions in this one last birth and live a pure life whilst living at home with your family. Show your courage in this.
  2. Follow shrimat constantly and perform elevated actions. Go beyond sound. Forget everything you have studied and heard previously and remember the one Father.
Blessing: May you be experienced in supersensuous joy by merging in the ocean of knowledge with your pure and positive thoughts.
The creatures that live in an ocean remain merged in the ocean and do not wish to come out. Fish stay in the water: the ocean and water are its world. In the same way, you children too, with your pure and positive thoughts, remain constantly merged in the Father, the Ocean of Knowledge. Until you have experienced being merged in the Ocean, you will not be able to experience swinging in the swing of supersensuous joy and remain constantly cheerful. For this, make yourself sit in solitude, that is, be introverted and unaware of the vibrations of all attractions.
Slogan: Make your face such a mobile museum that the Father, the Point, is visible.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 MAY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 May 2020

Murli Pdf for Print : – 

27-05-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – निश्चय ज्ञान योग से बैठता, साक्षात्कार से नहीं। साक्षात्कार की ड्रामा में नूँध है, बाकी उससे किसी का कल्याण नहीं होता”
प्रश्नः- बाप कौन-सी ताकत नहीं दिखाते लेकिन बाप के पास जादूगरी अवश्य है?
उत्तर:- मनुष्य समझते हैं भगवान तो ताकतमंद है, वह मरे हुए को भी जिंदा कर सकते हैं, परन्तु बाबा कहते यह ताकत मैं नहीं दिखाता। बाकी कोई नौधा भक्ति करते हैं तो उन्हें साक्षात्कार करा देता हूँ। यह भी ड्रामा में नूँध है। साक्षात्कार कराने की जादूगरी बाप के पास है इसलिए कई बच्चों को घर बैठे भी ब्रह्मा वा श्रीकृष्ण का साक्षात्कार हो जाता है।
गीत:- कौन आया मेरे मन के द्वारे…………

ओम् शान्ति। यह बच्चों के अनुभव का गीत है। सतसंग तो बहुत हैं, खास भारत में तो ढेर सतसंग हैं, अनेक मत-मतान्तर हैं, वास्तव में वह कोई सतसंग नहीं। सतसंग एक होता है। बाकी तुम वहाँ किसी विद्वान, आचार्य, पण्डित का मुँह देखेंगे, बुद्धि उस तरफ जायेगी। यहाँ फिर अनोखी बात है। यह सतसंग एक ही बार इस संगमयुग पर होता है। यह तो बिल्कुल नई बात है, उस बेहद के बाप का शरीर तो कोई है नहीं। कहते हैं मैं तुम्हारा निराकार शिवबाबा हूँ। तुम और सतसंगों में जाते हो तो शरीरों को ही देखते हो। शास्त्र याद कर फिर सुनाते हैं, अनेक प्रकार के शास्त्र हैं, वह तो तुम जन्म-जन्मान्तर सुनते आये हो। अब है नई बात। बुद्धि से आत्मा जानती है, बाप कहते हैं – हे मेरे सिकीलधे बच्चे, हे मेरे सालिग्रामों! तुम बच्चे जानते हो 5 हज़ार वर्ष पहले इस शरीर द्वारा बाबा ने पढ़ाया था। तुम्हारी बुद्धि एकदम दूर चली जाती है। तो बाबा आया है। बाबा अक्षर कितना मीठा है। वह है मात-पिता। कोई भी सुनेंगे तो कहेंगे पता नहीं इन्हों के मात-पिता कौन हैं? बरोबर वह साक्षात्कार कराते हैं तो उसमें भी वह मूँझते हैं। कभी ब्रह्मा को, कभी कृष्ण को देख लेते हैं। तो विचार करते रहते कि ये क्या है? ब्रह्मा का भी बहुतों को घर बैठे साक्षात्कार होता है। अब ब्रह्मा की तो कभी कोई पूजा करते नहीं हैं। कृष्ण आदि की तो करते हैं। ब्रह्मा को तो कोई जानते भी नहीं होंगे। प्रजापिता ब्रह्मा तो अब आया है, यह है प्रजापिता। बाप बैठ समझाते हैं कि सारी दुनिया पतित है तो जरूर यह भी बहुत जन्मों के अन्त में पतित ठहरे। कोई भी पावन नहीं है इसलिए कुम्भ के मेले पर, हरिद्वार गंगा सागर के मेले पर जाते हैं, समझते हैं स्नान करने से पावन बन जायेंगे। लेकिन यह नदियाँ कोई पतित-पावनी थोड़ेही हो सकती। नदियाँ तो निकलती हैं सागर से। वास्तव में तुम हो ज्ञान गंगायें, महत्व तुम्हारा है। तुम ज्ञान गंगायें जहाँ तहाँ निकलती हो, वो लोग फिर दिखलाते हैं, तीर मारा और गंगा निकली। तीर मारने की तो बात नहीं। यह ज्ञान गंगायें देश-देशान्तर जाती हैं।

शिवबाबा कहते मैं ड्रामा के बन्धन में बांधा हुआ हूँ। सभी का पार्ट निश्चित किया हुआ है। मेरा भी पार्ट निश्चित है। कोई समझते भगवान तो बहुत ताकतमंद है, मरे हुए को भी जिंदा कर सकते हैं। यह सभी गपोड़े हैं। मैं आता हूँ पढ़ाने के लिए। बाकी ताकत क्या दिखायेंगे। साक्षात्कार की भी जादूगरी है। नौधा भक्ति करते हैं तो मैं साक्षात्कार कराता हूँ। जैसे काली का रूप दिखलाते हैं, उन पर फिर तेल चढ़ाते हैं। अब ऐसी काली तो है नहीं, परन्तु काली की नौधा भक्ति बहुत करते हैं। वास्तव में काली तो जगत अम्बा है। काली का ऐसा रूप तो नहीं, परन्तु नौधा भक्ति करने से बाबा भावना का भाड़ा दे देते हैं। काम चिता पर बैठने से काले बने, अब ज्ञान चिता पर बैठ गोरे बनते हैं। जो काली अब जगदम्बा बनी है वह साक्षात्कार कैसे करायेगी। वह तो अभी बहुत जन्मों के अन्त के भी अन्त वाले जन्म में है। देवतायें तो अभी हैं नहीं। तो वह क्या साक्षात्कार करायेंगे। बाप समझाते हैं यह साक्षात्कार की चाबी मेरे हाथ में है। अल्पकाल के लिए भावना पूरी करने के लिए साक्षात्कार करा देता हूँ। परन्तु वह कोई मेरे से नहीं मिलते। मिसाल एक काली का देते हैं। इस रीति बहुत हैं – हनुमान, गणेश आदि। भल सिक्ख लोग भी गुरूनानक की बहुत भक्ति करें तो उन्हें भी साक्षात्कार हो जायेगा। परन्तु वह तो नीचे चले आते हैं। बाबा बच्चों को दिखलाते हैं देखो यह गुरूनानक की भक्ति कर रहे हैं। साक्षात्कार फिर भी मैं कराता हूँ। वह कैसे साक्षात्कार करायेंगे। उनके पास साक्षात्कार कराने की चाबी नहीं है। यह बाबा कहते हैं मुझे विनाश, स्थापना का साक्षात्कार भी उस बाबा ने कराया, परन्तु साक्षात्कार से कोई का भी कल्याण नहीं। ऐसे तो बहुतों को साक्षात्कार होते थे। आज वह हैं नहीं। बहुत बच्चे कहते हैं हमको जब साक्षात्कार हो तो निश्चय बैठे। परन्तु निश्चय साक्षात्कार से नहीं हो सकता। निश्चय बैठता है ज्ञान और योग से। 5 हज़ार वर्ष पहले भी मैंने कहा था कि यह साक्षात्कार मैं कराता हूँ। मीरा ने भी साक्षात्कार किया। ऐसे नहीं कि आत्मा वहाँ चली गई। नहीं, बैठे-बैठे साक्षात्कार कर लेते हैं लेकिन मेरे को नहीं प्राप्त कर सकते।

बाप कहते हैं कोई भी बात का संशय हो तो जो भी ब्राह्मणियाँ (टीचर्स) हैं, उनसे पूछो। यह तो जानते हो बच्चियाँ भी नम्बरवार हैं, नदियाँ भी नम्बरवार होती हैं। कोई तो तलाव भी हैं, बहुत गंदा, बांसी पानी होता है। वहाँ भी श्रद्धाभाव से मनुष्य जाते हैं। वह है भक्ति की अन्धश्रद्धा। कभी भी कोई से भक्ति छुड़ानी नहीं है। जब ज्ञान में आ जायेंगे तो भक्ति आपेही छूट जायेगी। बाबा भी नारायण का भक्त था, चित्र में देखा लक्ष्मी दासी बन नारायण के पांव दबा रही है तो यह बिल्कुल अच्छा नहीं लगा। सतयुग में ऐसा होता नहीं। तो मैंने एक आर्टिस्ट को कहा कि लक्ष्मी को इस दासीपने से विदाई दे दो। बाबा भक्त तो था परन्तु ज्ञान थोड़ेही था। भक्त तो सभी हैं। हम तो बाबा के बच्चे मालिक हैं। ब्रह्माण्ड का भी मालिक बच्चों को बनाते हैं। कहते हैं तुमको राज्य-भाग्य देता हूँ। ऐसा बाबा कभी देखा? उस बाप को पूरा याद करना है। उनको तुम इन आंखों से नहीं देख सकते। उनसे योग लगाना है। याद और ज्ञान भी बिल्कुल सहज है। बीज और झाड़ को जानना है। तुम उस निराकारी झाड़ से साकारी झाड़ में आये हो। बाबा ने साक्षात्कार का राज़ भी समझाया। झाड़ का राज़ भी समझाया। कर्म-अकर्म-विकर्म की गति भी बाबा ने समझाई है। बाप, टीचर, गुरू तीनों से ही शिक्षा मिलती है। अभी बाबा कहते हैं मैं तुमको ऐसी शिक्षा देता हूँ, ऐसे कर्म सिखलाता हूँ जो तुम 21 जन्म सदा सुखी बन जाते हो। टीचर शिक्षा देते हैं ना। गुरू लोग भी पवित्रता की शिक्षा देते हैं अथवा कथायें सुनाते हैं। परन्तु धारणा बिल्कुल नहीं होती। यहाँ तो बाप कहते हैं अन्त मति सो गति होगी। मनुष्य जब मरते हैं तो भी कहते हैं राम-राम कहो तो बुद्धि उस तरफ चली जाती है। अभी बाप कहते हैं तुम्हारा साकार से योग छूटा। अब मैं तुमको बहुत अच्छे कर्म सिखलाता हूँ। श्री कृष्ण का चित्र देखो, पुरानी दुनिया को लात मारते और नई दुनिया में आते हैं। तुम भी पुरानी दुनिया को लात मार नई दुनिया में जाते हो। तो तुम्हारी नर्क के तरफ है लात, स्वर्ग तरफ है मुँह। शमशान में भी अन्दर जब घुसते हैं तो मुर्दे का मुँह उस तरफ कर लेते हैं। लात पिछाड़ी तरफ कर लेते हैं। तो यह चित्र भी ऐसा बनाया है।

मम्मा, बाबा और तुम बच्चे, तुमको तो मम्मा-बाबा को फालो करना पड़े, जो उनकी गद्दी पर बैठो। राजा के बच्चे प्रिन्स-प्रिन्सेज कहलाते हैं ना। तुम जानते हो हम भविष्य में प्रिन्स-प्रिन्सेज बनते हैं। ऐसा कोई बाप-टीचर-गुरू होगा जो तुमको ऐसे कर्म सिखलाये! तुम सदाकाल के लिए सुखी बनते हो। यह शिवबाबा का वर है, वह आशीर्वाद करते हैं। यह नहीं, हमारे ऊपर उनकी कृपा है। सिर्फ कहने से कुछ नहीं होगा। तुमको सीखना होता है। सिर्फ आशीर्वाद से तुम नहीं बन जायेंगे। उसकी मत पर चलना है। ज्ञान और योग की धारणा करनी है। बाप समझाते हैं कि मुख से राम-राम कहना भी आवाज़ हो जाता। तुमको तो वाणी से परे जाना है। चुप रहना है। खेल भी बहुत अच्छे-अच्छे निकलते हैं। अनपढ़े को बुद्धू कहा जाता है। बाबा कहते हैं कि अब सभी को भूल कर तुम बिल्कुल बुद्धू बन जाओ। मैं जो तुमको मत देता हूँ उस पर चलो। परमधाम में तुम सभी आत्मायें बिना शरीर के रहती हो फिर यहाँ आकर शरीर लेती हो तब जीव आत्मा कहा जाता है। आत्मा कहती है मैं एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हूँ। तो बाप कहते मैं तुमको फर्स्टक्लास कर्म सिखलाता हूँ। टीचर पढ़ाते हैं, इसमें ताकत की क्या बात है। साक्षात्कार कराते हैं, इसको जादूगरी कहा जाता है। मनुष्य से देवता बनाना, ऐसी जादूगरी कोई कर न सके। बाबा सौदागर भी है, पुराना लेकर नया देते हैं। इनको पुराना लोहे का बर्तन कहा जाता है। इनका कोई मूल्य नहीं है। आजकल देखो तांबे के भी पैसे नहीं बनते। वहाँ तो सोने के सिक्के होते हैं। वन्डर है ना। क्या से क्या हो गया है!

बाप कहते हैं मैं तुमको नम्बरवन कर्म सिखलाता हूँ। मनमनाभव हो जाओ। फिर है पढ़ाई जिससे स्वर्ग का प्रिन्स बनेंगे। अभी देवता धर्म जो प्राय:लोप हो गया है, वह फिर से स्थापन होता है। मनुष्य तुम्हारी नई बातें सुनकर वन्डर खाते हैं, कहते हैं कि स्त्री-पुरूष दोनों ही इकट्ठे रह पवित्र रह सकें – यह कैसे हो सकता! बाबा तो कहते भल इकट्ठे रहो, नहीं तो मालूम कैसे पड़े। बीच में ज्ञान तलवार रखनी है, इतनी बहादुरी दिखानी है। परीक्षा होती है। तो मनुष्य इन बातों में वन्डर खाते हैं क्योंकि शास्त्रों में तो ऐसी बातें हैं नहीं। यहाँ तो प्रैक्टिकल में मेहनत करनी पड़ती है। गन्धर्वी विवाह की बात यहाँ की है। अभी तुम पवित्र बनते हो। तो बाबा कहते बहादुरी दिखलाओ। संन्यासियों के आगे सबूत देना है। समर्थ बाबा ही सारी दुनिया को पावन बनाते हैं। बाप कहते हैं भल साथ में रहो सिर्फ नंगन नहीं होना है। यह सभी हैं युक्तियां। बड़ी जबरदस्त प्राप्ति है सिर्फ एक जन्म बाबा के डायरेक्शन पर पवित्र रहना है। योग और ज्ञान से एवरहेल्दी बनते हैं 21 जन्मों के लिए, इसमें मेहनत है ना। तुम हो शक्ति सेना। माया पर जीत पहन जगतजीत बनते हो। सभी थोड़ेही बनेंगे। जो बच्चे पुरूषार्थ करेंगे वही ऊंच पद पायेंगे। तुम भारत को ही पवित्र बनाकर फिर भारत पर ही राज्य करते हो। लड़ाई से कभी सृष्टि की बादशाही मिल न सके। यह वन्डर है ना। इस समय सब आपस में लड़कर खलास हो जाते हैं। मक्खन भारत को मिलता है। दिलाने वाली हैं वन्दे मातरम्। मैजारटी माताओं की है। अब बाबा कहते हैं जन्म-जन्मान्तर तुम गुरू करते आये, शास्त्र पढ़ते आये हो। अब हम तुमको समझाते हैं – जज योर सेल्फ, राइट क्या है? सतयुग है राइटियस दुनिया। माया अनराइटियस बनाती है। अब भारतवासी, इरिलीजस बन पड़े हैं। रिलीजन नहीं इसलिए माइट नहीं रही है। इरिलीजस, अनराइटियस, अनलॉफुल, इनसालवेन्ट बन पड़े हैं। बेहद का बाप है इसलिए बेहद की बातें समझाते हैं, कहते हैं कि फिर तुमको रिलीजस मोस्ट पावरफुल बनाता हूँ। स्वर्ग बनाना तो पावरफुल का काम है। परन्तु है गुप्त। इनकागनीटो वारियर्स हैं। बाप का बच्चों पर बहुत प्यार होता है। मत देते हैं। बाप की मत, टीचर की मत, गुरू की मत, सोनार की मत, धोबी की मत – इसमें सभी मतें आ जाती हैं। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस एक अन्तिम जन्म में बाप के डायरेक्शन पर चल घर गृहस्थ में रहते पवित्र रहना है। इसमें बहादुरी दिखानी है।

2) श्रीमत पर सदा श्रेष्ठ कर्म करने हैं। वाणी से परे जाना है, जो कुछ पढ़ा वा सुना है उसे भूल बाप को याद करना है।

वरदान:- शुभ चिंतन द्वारा ज्ञान सागर में समाने वाले अतीन्द्रिय सुख के अनुभवी भव
जैसे सागर के अन्दर रहने वाले जीव जन्तु सागर में समाये हुए होते हैं, बाहर नहीं निकलना चाहते, मछली भी पानी के अन्दर रहती है, सागर व पानी ही उसका संसार है। ऐसे आप बच्चे भी शुभ चिंतन द्वारा ज्ञान सागर बाप में सदा समाये रहो, जब तक सागर में समाने का अनुभव नहीं किया तब तक अतीन्द्रिय सुख के झूले में झूलने का, सदा हर्षित रहने का अनुभव नहीं कर सकेंगे। इसके लिए स्वयं को एकान्तवासी बनाओ अर्थात् सर्व आकर्षण के वायब्रेशन से अन्तर्मुखी बनो।
स्लोगन:- अपने चेहरे को ऐसा चलता फिरता म्यूज़ियम बनाओ जिसमें बाप बिन्दु दिखाई दे।

TODAY MURLI 27 MAY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 May 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 May 2019 :- Click Here

27/05/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to receive a current from the Father, remain busy doing in service. Children who renounce everything and remain busy in the Father’s service are loved; they climb into the Father’s heart.
Question: Why are some children unable to experience permanent happiness? What is the main reason for this?
Answer: Their intellects wander at the time of remembrance. Because of not having stable intellects they don’t have happiness. Storms of Maya trouble the lamps. Unless your actions become neutral, you cannot have permanent happiness. This is why you children have to make this effort.

Om shanti. When you say “Om shanti” you say with great enthusiasm, “I, the soul, am an embodiment of peace.” The meaning is so easy! The Father says, “Om shanti” and Dada too says, “Om shanti”. That One says, “I am the Supreme Soul”, and this one says, “I am a soul.” All of you are stars. There also has to be the Father of all the stars. It is remembered: The Sun, the moon and the lucky stars. You children are the most lucky stars. It is also numberwise in this, just as when the moon comes out at night, some stars are dim and others are bright. Some are close to the moon. They are stars. You are stars of knowledge. It is also said: A wonderful star shines in the middle of the forehead. The Father says: These stars (souls) are very wonderful. Firstly, they are such tiny points and no one knows anything about them. It is souls that play their parts through bodies. This is a great wonder. So, you children are also numberwise; all are different. The Father sits here and remembers the stars who sparkle very well and who do a lot of service. They are the ones who continue to receive a current. Your batteries continue to be charged. You receive a searchlight, numberwise, according to your efforts, in order to become satopradhan from tamopradhan. The Father says: Those who renounce everything for Me and remain busy in service are loved a great deal. They are the ones who climb into Baba’s heart. Baba is the One who wins your heart. There is also the Dilwala Temple. Is it the Dilwala Temple or the temple of the One who wins your heart? Whose heart does He win? You can see that Prajapita Brahma is sitting here. Shiv Baba has definitely entered him. You can also see the establishment of heaven up above and children sitting in tapasya down below. That is just a small model they have created. Those who do very good service are great helpers. There are the elephant riders (maharathis), the horse riders (cavalry) and the foot soldiers (infantry). This temple has been created very well and accurately as a memorial. You say that it is your memorial. You have now been enlightened. No one else has the third eye of knowledge. On the path of devotion, people continue to say, “True, true,” to whatever they are told. In fact, it is lies, but they consider it to be the truth. The Father, who is the Truth, now sits here and tells you the truth through which you become the masters of the world. The Father doesn’t have you make any effort. The secret of the whole tree is now in your intellects. Baba explains to you very easily, but why does it take time? It doesn’t really take time to receive knowledge or your inheritance. It takes time to become pure. The main thing is the pilgrimage of remembrance. You pay greater attention to the pilgrimage of remembrance when you come here. You don’t pay as much attention when you go back home. Here, all are numberwise. Some of you sitting here would have in your intellects the intoxication: We are the children and that One is the Father. The unlimited Father and we children are sitting here. You children know that the Father has entered this body. He is giving you divine drishti. He is doing service. So, you should remember that One alone. Your intellects should not go anywhere else. A trance messenger can give a full report of those whose intellects wander outside, of who are doing what and who are nodding off. She can tell everything. I continue to look at the stars who are very good and serviceable. The Father loves them. They help in establishment. The kingdom is being established exactly as it was in the previous cycle. It has been established many times before too. This is the cycle of the drama that continues. There is no question of worrying about this. You are with the Father, are you not? So, the Company colours you. You continue to worry less. This is the predestined drama. The Father brings the kingdom of heaven for you children. He simply says: Sweetest children, in order to become pure from impure, remember the Father. You now have to go back to your sweet home.You beat your heads for that on the path of devotion. However, not a single person could go back home. Now continue to remember the Father and continue to spin the discus of self-realisation; Alpha and beta. Remember the Father and spin the discus of self-realisation of 84 births. You souls have received the knowledge of the cycle of 84 births. No one else knows the Creator or the beginning, middle and end of creation. You know this, numberwise, according to your efforts. You wake up in the morning and keep in your intellects: We have now completed the cycle of 84 births and we now have to return home. Therefore, you have to remember the Father and you will become rulers of the globe. This is easy, but Maya makes you forget. There are storms of Maya that trouble the lamps. Maya is very powerful. She has so much power that she makes you children forget. That happiness doesn’t then remain permanently. You sit to remember the Father but, while sitting, your intellects wander somewhere else. All of these things are incognito. No matter how much you try, you won’t be able to remember Baba. Then, some people’s intellects become stable after wandering and some are able to become stable instantly. No matter how much you beat your head with some, this will not sit in their intellects. This is called war with Maya. You have to make so much effort in order to make your actions neutral. There is no kingdom of Ravan there that your actions would be sinful. Maya doesn’t exist there that she would make you perform wrong deeds. There is the play of Ravan and Rama. For half the cycle there is the kingdom of Rama and for half the cycle, there is the kingdom of Ravan: day and night. At the confluence age, there are only you Brahmins. You Brahmins now understand that the night is to end and that the day is to begin. Those who belong to the shudra clan do not understand this. They sing devotional songs very loudly. You have to go beyond sound. You remain engrossed in remembrance of your Father. Each of you soul has received the third eye of knowledge. You souls understand that you now have to remember the Father. On the path of devotion, you continued to say, “Shiv Baba, Shiv Baba”. In the Shiva Temple, people definitely call Shiva “Baba”. They don’t have knowledge. You have now received knowledge. That One is Shiv Baba; that is His image. Those people consider Him to be the lingam image. You have now received knowledge. Those people go and pour an urn of milk over it. The Father is incorporeal. If you pour milk over the incorporeal One, what would He do? If He were corporeal, He would accept it, but if you were to offer milk etc. to the incorporeal One, what would He do? The Father says: The milk etc. that you offer there is drunk by you and you yourselves eat the bhog etc. Here, I am personally in front of you. Previously, you used to do everything indirectly, whereas it is now direct. He has come down here and is playing His part. He is giving you a searchlight. You children understand that you should definitely come to Madhuban to Baba. Here, your batteries will be charged very well. At home, there is nothing but peacelessness in your mundane business. At this time, there is peacelessness throughout the whole world. You know that you are now establishing peace with the power of yoga. However, you receive a kingdom by studying. You heard this in the previous cycle and you are also hearing it now. Whatever act takes place will be performed again. The Father says: So many children were amazed by this knowledge, but they then ran away. They used to remember Me, the Beloved, so much. I have now come and yet they leave Me and go away! Maya slaps them so hard. Baba is experienced. Baba remembers his whole history. He used to run around barefoot wearing a cap. Those of Islam used to love him a lot and offer him a lot of hospitality – “The child of the schoolmaster has come” – as though he was the child of a guru. They would feed him millet chapattis. Here, too, Baba made a programme of eating just thick millet chapattis and buttermilk for 15 days. Nothing else was made at that time. The same food was cooked even for those who were ill. Nothing happened to anyone through that. Instead, those who were ill even became healthy. It was seen that they didn’t have any temptation of: “I must not have this, or I must have that.” To have desires is like being a road sweeper. Here, the Father says: It is better to die than to ask for anything. The Father Himself knows what He has to give you children. He Himself would give you whatever He wants to give. The drama is predestined. Baba asked those who consider Baba to be their Father and also their Child to raise their hands. Then, everyone raised their hands. They quickly raised their hands, just as everyone will instantly raise their hands if Baba asks who will become Lakshmi and Narayan. They also definitely add this parlokik Child. He serves His parents a great deal. He gives them the inheritance for 21 births. When a father goes into the stage of retirement, it is his children’s duty to look after him. It is as though the father becomes a sannyasi. Similarly, when this one’s physical father reached his stage of retirement he told him that he would like him (Baba) to take him to Benares as he would like to have spiritual gatherings there. (Relate Baba’s history.) You are Brahmins, Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. Prajapita Brahma is the great-great-grandfather. He is the first leaf of the human world tree. Neither is he called the Ocean of Knowledge, nor are Brahma, Vishnu or Shankar the Ocean of Knowledge. Shiv Baba is the unlimited Father and so you have to receive your inheritance from Him. No one knows when or how that incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, came, and yet people celebrate His birthday. He does not enter a womb. He explains: I enter this one in his stage of retirement, in the last of his many births. When people take up renunciation, they are said to be in their stage of retirement. So, the Father now says to you: Children, you have taken the full 84 births. This is the last of many births. You know the account. So, I enter this one. Where do I come and sit? I sit next to where his soul is sitting, just as gurus make their disciples sit next to them on their gaddi. This one’s place and My place are both in the same spot. I say: O souls, constantly remember Me alone and your sins will be absolved. You have to change from human beings into deities. This is Raja Yoga. Raja Yoga is definitely needed for the new world. The Father says: I have come to lay the foundation of the original eternal deity religion. There are many gurus, but only the one Satguru. He alone is the Truth whereas all others are false. You know that one rosary is of Rudra and that the other is the rosary of victory of Vishnu. You are making effort for that. Remember the Father and you will become a bead of the rosary, of which you used to turn the beads on the path of devotion. However, you didn’t know whose rosary that was or who was represented by the tassel at the top or who the dual-bead or the beads are. You didn’t understand whose rosary you were rotating. People simply continue to chant “Rama, Rama” and turn the beads of a rosary. While saying, “Rama, Rama”, they think that all are Rama. It is through this that there has been the darkness of omnipresence. They don’t even know the meaning of the rosary. Some say: Rotate the rosary one hundred times. Some say: Rotate it this many times. The father is experienced. He had 12 gurus and he had experiences from the 12 of them. There are many who, even though they have their own guru, go to others thinking that they may get another experience. They turn the beads of a rosary. That is total, blind faith. After they have finished turning the beads of a rosary, they then salute the tassel. Shiv Baba is the tassel. You specially beloved children are becoming the beads of the rosary. You are then remembered. Those people don’t know anything at all. Some of them remember Rama and some of them remember Krishna. There is no meaning to it. They say: I seek asylum with you, Shri Krishna”. However, he was a prince of the golden age. How could they seek asylum with him? It is with the Father that you seek asylum. Only you become worthy of worship and then worshippers. You have become impure by taking 84 births and you then say to Shiv Baba: O tassel, make us the same as You are! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not have any type of desire. Finish all temptations; only eat what Baba feeds you. You have received the direction: It is better to die than to ask for anything.
  2. In order to receive the Father’s searchlight, have true love for the one Father. Let there be this intoxication in your intellect: We are the children and He is the Father. We have to become satopradhan from tamopradhan through His searchlight.
Blessing: May you become ever healthy and remain constantly in a happy state with the instant fruit of elevated attainments.
At the confluence age, as soon as you do something, you instantly experience elevated attainment; this is the instant fruit. The most elevated fruit is to experience closeness. Currently, it is said in the physical world, “Eat fruit and you will stay healthy.” Fruit is considered a means of remaining healthy and you children eat visible fruit at every second and this is why you are ever-healthy. If people ask you how you are, tell them: We move along like angels and are happy.
Slogan: Become full with the treasure of everyone’s blessings and you will not need to labour in making effort.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 MAY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli 26/5/19 : Read Murli

27-05-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप से करेन्ट लेनी है तो सर्विस में लगे रहो, जो बच्चे सब कुछ त्याग बाप की सर्विस में रहते हैं वही प्यारे लगते हैं, दिल पर चढ़ते हैं”
प्रश्नः- बच्चों को स्थाई खुशी क्यों नहीं रहती, मुख्य कारण क्या है?
उत्तर:- याद के समय बुद्धि भटकती है, स्थिर बुद्धि न होने कारण खुशी नहीं रह सकती। माया के त़ूफान दीपकों को हैरान कर देते हैं। जब तक कर्म, अकर्म नहीं बनते हैं तब तक खुशी स्थाई नहीं रह सकती है इसलिए बच्चों को यही मेहनत करनी है।

ओम् शान्ति। जब ओम् शान्ति कहते हैं तो बड़े हुल्लास से कहते हैं हम आत्मा शान्त स्वरूप हैं। अर्थ कितना सहज है। बाप भी कहेंगे ओम् शान्ति। दादा भी कहेंगे ओम् शान्ति। वह कहते हैं मैं परमात्मा हूँ, यह कहते मैं आत्मा हूँ। तुम सब सितारे हो। सब सितारों का बाप भी चाहिए ना। गाया जाता है सूर्य, चांद और लकी सितारे। तुम बच्चे हो मोस्ट लकी सितारे। उनमें भी नम्बरवार हैं। जैसे रात को चन्द्रमा निकलता है फिर सितारों में कोई डिम होते हैं, कोई बड़े तीखे होते हैं। कोई चन्द्रमा के आगे होते हैं। सितारे हैं ना। तुम भी ज्ञान सितारे हो। चमकता है भ्रकुटी के बीच में वन्डरफुल सितारा। बाप कहते हैं यह सितारे (आत्मायें) बड़े वन्डरफुल हैं। एक तो इतनी छोटी बिन्दी है, जिसका कोई को पता नहीं है। आत्मा ही शरीर से पार्ट बजाती है। यह बड़ा वन्डर है। तो तुम बच्चों में भी नम्बरवार हैं। कोई कैसे, कोई कैसे। बाप उनको बैठ याद करते हैं जो सितारे अच्छे चमकते हैं, जो बहुत सर्विस करते हैं, उनको करेन्ट मिलती जाती है। तुम्हारी बैटरी भरती जाती है। तमोप्रधान से सतोप्रधान बनने के लिए सर्च लाइट मिलती है नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। बाप कहते हैं जो मेरे अर्थ सब कुछ त्याग सर्विस में लगे रहते हैं, वह बहुत प्यारे लगते हैं। दिल पर भी चढ़ते हैं। बाप दिल लेने वाला है ना। दिलवाला मन्दिर भी है ना। अब दिलवाला या दिल लेने वाला मन्दिर। किसकी दिल लेने वाला? तुमने देखा है ना। प्रजापिता ब्रह्मा बैठा है ना। जरूर उनमें शिवबाबा की प्रवेशता है और फिर तुम देखते भी हो – ऊपर में स्वर्ग की स्थापना भी है, नीचे बच्चे तपस्या में बैठे हैं। यह तो छोटा मॉडल रूप में बनाया हुआ है। तो जो बहुत अच्छी सर्विस करते हैं, बहुत मददगार हैं। महारथी, घोड़ेसवार, प्यादे हैं ना। यह मन्दिर यादगार बहुत अच्छा एक्यूरेट बना हुआ है। तुम कहेंगे यह हमारा ही यादगार है। अभी तुमको रोशनी मिली है और कोई को भी ज्ञान का तीसरा नेत्र नहीं है। भक्ति मार्ग में तो जो मनुष्यों को सुनाते हैं, सत सत करते जाते हैं। वास्तव में है झूठ, उसको सत समझते हैं। अब बाप जो ट्रूथ हैं, वह बैठकर तुमको ट्रूथ सुनाते हैं, जिससे तुम विश्व के मालिक बनते हो। बाप तो कुछ भी मेहनत नहीं कराते हैं। सारे झाड़ का राज़ तुम्हारी बुद्धि में बैठ गया है। तुमको समझाते तो बहुत सहज हैं, परन्तु टाइम क्यों लगता है? नॉलेज वा वर्सा लेने में टाइम नहीं लगता। टाइम लगता है पवित्र बनने में। मुख्य है याद की यात्रा। यहाँ तुम आते हो तो यहाँ अटेन्शन जास्ती होता है याद की यात्रा में। घर में जाने से इतना नहीं रहता। यहाँ सब नम्बरवार हैं। कोई तो यहाँ बैठे होंगे, बुद्धि में यही नशा होगा – हम बच्चे, वह बाप है। बेहद का बाप और हम बच्चे बैठे हैं। तुम बच्चे जानते हो बाप इस शरीर में आया हुआ है। दिव्य दृष्टि दे रहे हैं, सर्विस कर रहे हैं। तो उस एक को ही याद करना चाहिए। और कोई तरफ बुद्धि जानी नहीं चाहिए। सन्देशी पूरी रिपोर्ट दे सकती है – किसकी बुद्धि बाहर भटकती है, कौन क्या करते हैं, किसको झुटका आता है, सब बता सकती है।

जो सितारे अच्छे सर्विसएबुल हैं, उन्हों को ही देखता रहता हूँ। बाप का लव है ना। स्थापना में मदद करते हैं। हूबहू कल्प पहले मिसल यह राजधानी स्थापन हो रही है, अनेक बार हुई है। यह तो ड्रामा का चक्र चलता रहता है। इसमें फिक्र की भी कोई बात नहीं रहती। बाबा के साथ हैं ना। तो संग का रंग लगता है। फिक्र कम होती जाती है। यह तो ड्रामा बना हुआ है। बाप बच्चों के लिए स्वर्ग की राजधानी ले आये हैं। सिर्फ कहते हैं मीठे-मीठे बच्चों, पतित से पावन बनने के लिए बाप को याद करो। अब जाना है स्वीट होम, जिसके लिए ही तुम भक्ति मार्ग में माथा मारते हो। परन्तु एक भी जा नहीं सकते। अब बाप को याद करते रहो और स्वदर्शन चक्र फिराते रहो। अल्फ और बे। बाप को याद करो और 84 का चक्र फिराओ। आत्मा को 84 के चक्र का ज्ञान हुआ है। रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को कोई भी नहीं जानते हैं। तुम जानते हो सो भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। सुबह को उठकर तुम बुद्धि में यही रखो – अब हमने 84 का चक्र पूरा किया है, अब वापिस जाना है इसलिए अब बाप को याद करना है तो तुम चक्रवर्ती बनेंगे। यह तो सहज है ना। परन्तु माया तुमको भुला देती है। माया के त़ूफान हैं ना, वह दीपकों को हैरान कर देते हैं। माया बड़ी दुस्तर है, इतनी शक्ति है जो बच्चों को भुला देती है। वह खुशी स्थाई नहीं रहती है। तुम बाप को याद करने बैठते हो, बैठे-बैठे बुद्धि और तरफ चली जाती है। यह सब हैं गुप्त बातें। कितनी भी कोशिश करेंगे परन्तु याद कर नहीं सकेंगे। फिर कोई की बुद्धि भटक-भटक कर स्थिर हो जाती है, कोई फट से स्थिर हो जाते हैं, कोई से तो कितना भी माथा मारो तो भी बुद्धि में ठहरता नहीं। इसको माया की युद्ध कहा जाता है। कर्म, अकर्म बनाने के लिए कितनी मेहनत करनी पड़ती है। वहाँ तो रावण राज्य ही नहीं तो कर्म-विकर्म भी नहीं होते। माया होती ही नहीं जो उल्टा कर्म कराये। रावण और राम का खेल है। आधाकल्प है राम राज्य, आधाकल्प है रावण राज्य। दिन और रात। संगमयुग पर सिर्फ ब्राह्मण ही होते हैं। अब तुम ब्राह्मण समझते हो रात पूरी हो दिन शुरू होना है। वह शूद्र वर्ण वाले थोड़ेही समझते हैं।

मनुष्य तो बहुत आवाज़ से भक्ति आदि के गीत गाते हैं। तुमको तो जाना है आवाज़ से परे। तुम तो अपने बाप की ही याद में मस्त रहते हो। आत्मा को ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। आत्मा समझती है अब बाप को याद करना है। भक्ति मार्ग में शिवबाबा-शिवबाबा तो करते आये हैं। शिव के मन्दिर में शिव को बाबा जरूर कहते हैं। ज्ञान कुछ भी नहीं। अब तुमको ज्ञान मिला है। वह शिवबाबा है, उनका यह चित्र है, वह तो लिंग ही समझते हैं। अब तुमको तो ज्ञान मिला है। वह लिंग के ऊपर जाकर लोटी चढ़ाते हैं। अब बाप तो है निराकार। निराकार के ऊपर लोटी चढ़ायेंगे, वह क्या करेंगे! साकार हो तो स्वीकार भी करे। निराकार पर दूध आदि चढ़ायेंगे, वह क्या करेंगे! बाप कहते हैं दूध आदि जो चढ़ाते हो वह तुम ही पीते हो, भोग आदि भी तुम ही खाते हो। यहाँ तो मैं सम्मुख हूँ ना। आगे इनडायरेक्ट करते थे, अभी तो डायरेक्ट है, नीचे आकर पार्ट बजा रहे हैं। सर्चलाइट दे रहे हैं। बच्चे समझते हैं मधुबन में बाबा के पास जरूर आना चाहिए। वहाँ हमारी बैटरी अच्छी चार्ज होती है। घर में तो गोरखधन्धे आदि में अशान्ति ही अशान्ति लगी हुई है। इस समय सारे विश्व में अशान्ति है। तुम जानते हो अभी हम शान्ति स्थापन कर रहे हैं योगबल से। बाकी राजाई मिलती है पढ़ाई से। कल्प पहले भी तुमने यह सुना था, अब भी सुनते हो। जो कुछ एक्ट होती है फिर भी होगी। बाप कहते हैं कितने बच्चे आश्चर्यवत् भागन्ती हो गये। मुझ माशूक को इतना याद करते थे। अब मैं आया हूँ तो फिर छोड़कर चले जाते हैं। माया कैसा थप्पड़ लगा देती है। बाबा अनुभवी तो है ना! बाबा को अपनी सारी हिस्ट्री याद है। सिर पर टोपी, नंगे पांव दौड़ता था… मुसलमान लोग भी बहुत प्यार करते थे। बहुत ख़ातिरी करते थे। मास्टर का बच्चा आया जैसे गुरू का बच्चा आया। बाजरी का ढोढा खिलाते थे। यहाँ भी बाबा ने 15 दिन प्रोग्राम दिया था ढोढा और छांछ खाने का। और कुछ भी नहीं बनता था। बीमार आदि सबके लिए यही बनता था। किसको कुछ भी हुआ नहीं। और ही बीमार बच्चे भी तन्दुरूस्त हो गये। देखते थे आसक्ति टूटी हुई है! यह नहीं होना चाहिए या यह चाहिए। चाहना को चुहरा (जमादार) कहा जाता है। यहाँ तो बाप कहते हैं मांगने से मरना भला। बाप ही जानते हैं – बच्चों को क्या देना है। जो कुछ देना होगा वह खुद ही देंगे। यह सब ड्रामा बना हुआ है।

बाबा ने तो पूछा था ना बाप को जो बाप भी समझते हैं और बच्चा भी समझते हैं, वह हाथ उठायें। तो सबने हाथ उठाया। हाथ तो झट उठा देते हैं। जैसे बाबा पूछते हैं लक्ष्मी-नारायण कौन बनेंगे? तो झट हाथ उठायेंगे। यह पारलौकिक बच्चा भी जरूर एड करते हैं, यह तो माँ-बाप की बहुत सेवा करते हैं। 21 जन्म का वर्सा देते हैं। बाप जब वानप्रस्थ में जाते हैं तो फिर बच्चों का फ़र्ज है बाप की सम्भाल करना। वह जैसे सन्यासी बन जाते हैं। जैसे इनका लौकिक बाप था, वानप्रस्थ अवस्था हुई तो बोला हम जाकर बनारस में सतसंग करेंगे, हमको वहाँ ले चलो। (हिस्ट्री सुनाना) तुम हो ब्राह्मण प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारियां। प्रजापिता ब्रह्मा है ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर। सबसे पहला पत्ता है मनुष्य सृष्टि का। इनको ज्ञान सागर नहीं कहा जाता। न ब्रह्मा-विष्णु-शंकर ही ज्ञान के सागर हैं। शिवबाबा वह है बेहद का बाप, तो उनसे वर्सा मिलना चाहिए ना। वह निराकार परमपिता परमात्मा कब, कैसे आया, उनकी जयन्ती मनाते हैं। यह कोई को पता नहीं। यह तो गर्भ में नहीं आते हैं। समझाते हैं मैं इनमें प्रवेश करता हूँ, बहुत जन्मों के अन्त में वानप्रस्थ अवस्था में। मनुष्य जब सन्यास करते हैं तो उनकी वानप्रस्थ अवस्था कही जाती है। तो अब बाप तुमको कहते हैं – बच्चे, तुमने पूरे 84 जन्म लिए, यह है बहुत जन्मों के अन्त का जन्म। हिसाब तो जानते हो ना। तो मैं इनमें प्रवेश करता हूँ। कहाँ आकर बैठता हूँ, इनकी आत्मा जहाँ बैठी है, उनके बाजू में आकर बैठता हूँ। जैसे गुरू लोग अपने शिष्य को बाजू में गद्दी पर बिठाते हैं। इनका भी स्थान यहाँ है, मेरा भी यहाँ है। कहता हूँ हे आत्माओं, मामेकम् याद करो तो पाप विनाश हो जायेंगे। मनुष्य से देवता बनना है ना। यह है राजयोग। नई दुनिया के लिए जरूर राजयोग चाहिए। बाप कहते हैं मैं आया हूँ आदि सनातन देवी-देवता धर्म का फाउन्डेशन लगाने। गुरू लोग अनेक हैं, सतगुरू एक है, वही सत्य है। बाकी तो सब झूठ हैं।

तुम जानते हो एक है रूद्र माला, दूसरी है वैजयन्ती माला विष्णु की। उसके लिए तुम पुरूषार्थ करते हो, बाप को याद करो तो माला का दाना बनेंगे। जिस माला का तुम भक्ति मार्ग में सिमरण करते हो परन्तु जानते नहीं हो कि यह माला किसकी है, ऊपर में फूल कौन है, फिर मेरू क्या है, दाने कौन हैं? जिसकी माला फेरते हैं, समझते कुछ नहीं। ऐसे ही राम-राम कहते माला फेरते रहते हैं। राम-राम कहने से समझते हैं सब राम ही राम हैं। सर्वव्यापी की बात का अन्धियारा इससे निकला है। माला का अर्थ ही नहीं जानते। कोई कहते 100 माला फेरो.. इतनी माला फेरो। बाप तो अनुभवी है ना। 12 गुरू किये, 12 का अनुभव लिया। ऐसे भी बहुत होते हैं, अपना गुरू होते भी फिर औरों के पास जाते हैं कि कुछ अनुभव मिल जाए। माला आदि फेरते हैं। है बिल्कुल अन्धश्रद्धा। माला पूरी कर फूल को नमस्कार करते हैं। शिवबाबा फूल है ना। माला के दाने तुम अनन्य बच्चे बनते हो। तुम्हारा फिर सिमरण चलता है। उनको कुछ भी पता नहीं। वह तो कोई राम कहते, कोई कृष्ण को याद करते, अर्थ कुछ भी नहीं। श्रीकृष्ण शरणम् कह देते। अब वह तो सतयुग का प्रिन्स था। उनकी शरण कैसे लेंगे। शरण तो बाप की ली जाती है। तुम ही पूज्य फिर पुजारी बनते हो। 84 जन्म ले पतित बने हो तो शिवबाबा को कहते हैं हे फूल, हमको भी आपसमान बनाओ। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी भी प्रकार की चाहना नहीं रखनी है। आसक्ति ख़त्म कर देनी है। बाबा जो खिलाये… तुम्हें डायरेक्शन है, मांगने से मरना भला।

2) बाप की सर्चलाइट लेने के लिए एक बाप से सच्चा लव रखना है। बुद्धि में नशा रहे कि हम बच्चे हैं, वह बाप है। उनकी सर्चलाइट से हमें तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है।

वरदान:- श्रेष्ठ प्राप्तियों के प्रत्यक्षफल द्वारा सदा खुशहाल रहने वाले एवरहेल्दी भव
संगमयुग पर अभी-अभी किया और अभी-अभी श्रेष्ठ प्राप्ति की अनुभति हुई – यही है प्रत्यक्षफल। सबसे श्रेष्ठ फल है समीपता का अनुभव होना। आजकल साकार दुनिया में कहते हैं कि फल खाओ तो तन्दरूस्त रहेंगे। हेल्दी रहने का साधन फल बताते हैं और आप बच्चे हर सेकण्ड प्रत्यक्षफल खाते ही रहते हो इसलिए एवरहेल्दी हो ही। यदि आपसे कोई पूछे कि आपका क्या हालचाल है, तो बोलो कि फरिश्तों की चाल है और खुशहाल है।
स्लोगन:- सर्व की दुआओं के खजाने से सम्पन्न बनो तो पुरुषार्थ में मेहनत नहीं करनी पड़ेगी।

TODAY MURLI 27 MAY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 May 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 May 2018 :- Click Here

27/05/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
03/12/83

The elevated fortune of the Brahmins of the confluence-age.

Today, the Father, the Jewel Merchant is seeing His children, who are businessmen. All of you children have made a deal. With whom have you made a deal and which of you have made a deal? In terms of the world, you are very innocent children, but you innocent children have recognised the cleverest of all Father. So, does that make you innocent or clever? In contrast to the people of the world who consider themselves to be clever in many things, all of you are considered to be innocent, but you call all of them innocent because they don’t have the understanding or cleverness to know the cleverest Father of all. You children know the roots whereas they are going into the expansion. All of you have attained multimillions from the One whereas those people are still counting the millions and billions. Who attains the eye of recognition, which is also called the eye of elevated knowledge, every cycle? All of you innocent souls. Those people remain lost whilst searching in the expansion of questions, such as, “What?”, “Why?”, “If not like this (aise), then how (kaise)?”, whereas all of you said, “My Baba, He alone is my Father”, to Him and made a deal with the Jewel Merchant. Call Him the Ocean of Knowledge or the Jewel Merchant, He is giving you trayfuls of jewels. You play with those jewels. You are sustained with those jewels, you swing in jewels, you have nothing but jewels. Can you count how many jewels you have received? At amrit vela, as soon as you open your eyes, you celebrate a meeting with the Father and play with jewels, do you not? What business do you do throughout the day? You do the business of jewels, do you not? You count the points of the jewels of knowledge in your intellects, do you not? So you are the businessmen who deal in jewels and the masters of jewel mines. The more you use them, the more they increase. To make a deal means to become very prosperous. So, have you learnt how to make a deal? Have you made a deal or are you going to make a deal? Are you businessmen numberwise or are all of you number one? The aim of all of you is number one, but someone who is number one would keep himself so constantly busy with the jewels that he wouldn’t have any time for seeing, listening to or thinking about anything else. Even Maya would see that he was busy and would go away. He wouldn’t need to make the effort of repeatedly chasing Maya away. Today, BapDada was seeing all the very important children who call themselves knowledgefull and seeing what they were doing. They have the understanding of many things, but not of one particular thing. He was seeing the Brahmin children in contrast to them. BapDada too was singing a song when He saw the difference between the two types. You too sing that song. Brahma Baba used to love that song. BapDada was singing that song about you children. Today, Father Brahma was singing that with a lot of playful intoxication (masti). How innocent and lovely you sweet children are! Just as all of you sing it about the Father, so the Father also sings this song about you children. Who else would sing this song for you children: Who finds you sweet and who loves you? This awareness makes you constantly humble and enables you to remain stable in the intoxication of your self-respect. There is no harm caused by this intoxication. Do you have this much intoxication? For half the cycle you sang songs about God and now God is singing songs about you. Seeing both types of children, BapDada feels both mercy and love for them.

Today, Father Brahma was especially remembering the unknown children of Bharat and the lands abroad. People of the world call them VIPs, whereas the Father calls them VIP which means a Very Innocent Person. This is how He sees them. You are saints and they are innocent, but now you have to give them a drop. Do you know how to give them just a drop? In your line, is their number at the back or at the front? What do you think? (BapDada conducted a drill of silence.)

Give the special power of silence to those souls in this way. Now, they have the thought that they should find some support or some new path. Their desire is now being awakened. It is now the duty of all of you to show them the path. Unity and determination are two ways in which you can show them the path. The good wishes of the gathering will become instrumental in giving those souls the fruit of their loving feelings. The pure thought of all of you will create the thought in those souls to carry out an auspicious task. Adopt this method from now on. Even so, a big task is successful when everyone’s pure thought is offered. Do you understand? BapDada says to everyone: Let no child be deprived of anything. All of you have become prosperous, have you not? Achcha.

To the great businessmen who make an elevated deal, to the master jewel merchants who are constantly sustained by jewels and play with jewels, to those who are extremely loving, constantly co-operative, long-lost and now-found children who have the eye of recognition of the Father, to the constant servers who constantly sing the song of “My Baba”, to such special souls, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting a group:

Madras residents: All of you have zeal and enthusiasm, do you not? All of you have the same zeal and enthusiasm in your mind about how to reveal the Father, do you not? You are now also preparing the stage. You are preparing the stage to hoist the flag of revelation. All others also hoist physical flags, but what flag will you hoist? Will you hoist a material flag? What will you do? That is just in name, but what is the real flag that you will hoist? That of revealing the Father. You will hoist the flag which will spread the sound that the Father has come. You are making preparations for this, are you not? Let all souls who are deprived receive light and be shown the path. This is the effort that all of you make and have to make in the future too. If you spread this wave from now on, you will be able to spread this wave everywhere at that time. You have made such preparations, have you not? Always think that you will do what hasn’t yet happened anywhere else and show everyone. You have to do something new. The new thing is to let all souls receive the introduction and think, say and experience that the Father has come. Achcha.

To the specially invited group of brothers and sisters:

All of you consider yourselves to be special souls, do you not? Are you special souls? Or, do you have to become that? You are not those who speak the language of “I will, I will” (ge, ge), in the future: “I will do it, I will see about it, I will think about it”, are you? Know your importance and realise how important all of you are. You children don’t constantly remember your importance to the same extent that the Father knows your importance. You know it, but you don’t remember it. If you did remember it, you would be constantly powerful and would also be instruments to make others powerful and increase their zeal and enthusiasm. Therefore, you are instruments, are you not? You have made the past the past. You have forgotten the past and filled your present and future with constant zeal and enthusiasm. Whilst moving along, you experience yourselves to be those with an ordinary life, but you are not ordinary; you are constantly elevated. You have come into relationships with others, you have studied, you have looked after your families: That is not a speciality; it is also just being ordinary. Even those in the last number do that. So, what would be special if the original jewels do the same thing as those in the last number? To be an original jewel means to be special compared with others in your every thought and deed. In comparison with the people of the world, all of you have become unique. However, even in the alokik family, you are special compared with ordinary effort-makers. In terms of the world, even the last number is special, but in God’s family you are the original jewels, you are special. Look at yourself in this way. The old and mature ones are those who always give the youngest of all the best and easiest advice and show them the path. In the same way, you are not those who simply speak through their mouths, but those who demonstrate it by doing it in a practical way. So your every step and every act has to be such that it appears to be special to the souls of God’s family. This is the duty of special souls, is it not? Whoever sees you special souls are especially reminded of the Father. For instance, even now in Madhuban, when you see Didi and Dadi in the corporeal form, what do you see especially merged in their actions? You can see the father, can you not? You are also souls in corporeal forms, are you not? They are not special actors like Brahma, they are not even like incorporeal Father Shiva, they are not like Brahma, but they are Brahmins. They are Brahmins and you are Brahmins. They became special instrument souls, but how did they become instruments? They think it is their responsibility, do they not? It is responsibility that has made them special. You too experience yourselves to be the same, do you not? You are also responsible, are you not? Or, are just Didi and Dadi responsible? In the field of service, you too are instruments, are you not? Everywhere, BapDada has made all special souls instruments. Some are in one place and others are in another place. Let there constantly be the awareness of this much responsibility. Just as you see Didi and Dadi as instruments, in the same way, let others experience the same from you. Let them feel that you are original jewels and that they receive special inspiration for zeal and enthusiasm from you. It isn’t that they say they are Didi and Dadi and that everyone should accept them as such; their actions automatically attract others. In the same way, let the special actions of all of you attract everyone. You have this much responsibility. You are not slack, are you? “What can I do? How can I do this? I have double responsibility!” You are not those who say this. You let go and became free. You saw the father having such unlimited responsibility. You also saw the physical responsibilities. Put aside the question of Shiv Baba, you saw Father Brahma in the physical form. No one had as much responsibility in a physical way as Father Brahma did. You may think: What can I do when I am living in such an atmosphere? The vibrations are bad. The storks keep pecking at me. There is the devilish community everywhere. However, Father Brahma demonstrated being detached and loving whilst in the midst of the devilish community, did he not? Therefore, follow the Father.

What will you do now? When you go back from here, let everyone experience that their pillar who increases their zeal and enthusiasm has come. Do you understand? You are such stars of the Father’s hopes. Don’t keep things of little ones in your hearts. The hearts of old and mature ones are generous and big. They don’t have small hearts. Just as Father Brahma merged everyone’s weaknesses and made each one elevated, so you too are instruments in the same way. Never think: This one is doing this. This one never listens. It is your duty to make those who don’t listen to anyone listen to you. They are young and you are senior. The older ones have to change. Little ones are mischievous anyway. So, don’t look at their weaknesses. Be mature and become those who merge everyone’s weaknesses, those who are equal to the Father. All of you have this much responsibility. You have been invited here to remind you of your responsibilities once again. Do you understand? You are children of the Ocean, are you not? What does an ocean do? It merges everything. It merges everything of everyone and refreshes them. So you are also those who merge everything of everyone and refresh them. Let anyone who comes experience being coloured with a special colour by coming into the company of a special soul, that they have received co-operation. You are not those who constantly say, “Give me co-operation, give me co-operation”, are you? You are those who give co-operation. Since you have been co-operating from the beginning, you will be companions who give co-operation till the end, will you not? If all of you give co-operation, the young ones will fly. Any place you go to will become a place that flies. You go as a magic flying carpet so that anyone who sits on it, who comes into connection with it, also flies. BapDada is very pleased. About what? There are so many companions. When He sees those who are equal to Him, when He sees such equal children, the Father is very happy. Now, only a few have come, but there are many more. However many have come, the Father is happy to see them. Now, become a magic flying carpet and make everyone fly. Your brothers are making so much effort, and so you do feel mercy for them, do you not? Give them co-operation and make them fly.

This is the service of special souls. You explained to students, you gave the course, you organised the fairs and also inspired others. Everyone does this all the time. In the gatherings too, let them see the speciality of you special souls. As soon as you stand up, everyone becomes enthusiastic. The ones who do the work only need the special co-operation of zeal and enthusiasm. Now, many of your younger brothers and sisters who will do the work have come. It is the duty of you senior ones to look at those companions with love and to extend your hand of zeal and enthusiasm. When they see you, let them remember the Father. Let it emerge from everyone’s lips that you are the image of the Father, just as it emerges for these two (Didi and Dadi), that they are the image of the Father, because they perform the practical actions in service. In the same way, you must definitely celebrate this ceremony of determined thought. What did you understand? You people don’t get caught in storms, do you? You are those who go beyond storms, not those who get caught in storms. You are examples, are you not? When they see you, everyone feels that this is how they too have to move along, that this is how it happens. Therefore, let there be this much attention. Achcha.

Blessing: May you be a master almighty authority who makes the atmosphere powerful with your obstacle-free stage.
Your service is first of all to make yourself free from obstacles and then to make others free from obstacles. If you yourself continue to be affected by obstacles, then, at the end, you will not be able to remain free from obstacles. Therefore, make your stage obstacle-free over a long period of time. Make weak souls powerful with the power that you have received from the Father. Experience the stage of being a master almighty authority, for only then will the atmosphere become powerful.
Slogan: Royalty is visible in every activity of the royal children of the royal Father.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 MAY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 May 2018

To Read Murli 26 May 2018 :- Click Here
27-05-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 03-12-83 मधुबन

संगमयुगी ब्राह्मणों का श्रेष्ठ भाग्य

आज रत्नागर बाप अपने सौदागर बच्चों को देख रहे हैं। सौदा सभी बच्चों ने किया है। किससे सौदा किया और किन्होंने किया है? दुनिया के हिसाब से तो बहुत भोले बच्चे हैं लेकिन भोले बच्चों ने चतुर-सुजान बाप को जाना। तो भोले हुए या चतुर हुए? दुनिया वाले जो अपने को अनेक बातों में चतुर समझते हैं उसके अन्तर में आप सबको भोले समझते हैं लेकिन आप सब उनको भोले कहते हो – क्योंकि चतुर-सुजान बाप को जानने की समझ, चतुराई उन्हों में नहीं है। आप लोगों ने मूल को जान लिया और वह विस्तार में जा रहे हैं। आप सबने एक में पदम पा लिया और वह अरब-खरब गिनते ही रह गये। पहचानने की आंख, जिसको श्रेष्ठ नॉलेज की आंख कहते हैं, वह कल्प-कल्प किसको प्राप्त होती है? आप भोली आत्माओं को। वे क्या और क्यों, ऐसे और कैसे के विस्तार में ढूँढते ही रह जाते हैं और आप सभी ने “वो ही मेरा बाप है”, मेरा बाबा कहकर रत्नागर से सौदा कर लिया। ज्ञान सागर कहो, रत्नागर कहो, रत्नों की थालियां भर-भरकर दे रहे हैं। उन रत्नों से खेलते हो। रत्नों से पलते हो, रत्नों में झूलते हो, रत्न ही रत्न हैं, हिसाब कर सकते हो, कितने रत्न मिले हैं! अमृतवेले आंख खोलते बाप से मिलन मनाते रत्नों से खेलते हो ना। सारे दिन में धन्धा कौन सा करते हो! रत्नों का धन्धा करते हो ना! बुद्धि में ज्ञान रत्नों की प्वाइंटस गिनते हो ना। तो रत्नों के सौदागर रत्नों की खानों के मालिक हो। जितने कार्य में लगाओ उतने बढ़ते ही जाते। सौदा करना अर्थात् मालामाल बनना। तो सौदा करना आ गया है! सौदा कर लिया है वा अभी करना है? सौदागर नम्बरवार हैं वा सभी नम्बर वन हैं? लक्ष्य तो सभी का नम्बर वन है लेकिन नम्बर वन सदा रत्नों में इतना बिज़ी रहेगा जो और कोई बातों को देखने, सुनने और सोचने की फुर्सत ही नहीं होगी। माया भी बिजी देख वापस चली जायेगी। माया को बार-बार भगाने की मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। तो आज बापदादा एक तरफ बड़े-बड़े नामीग्रामी नॉलेजफुल कहलाने वाले बच्चों को देख रहे थे, क्या-क्या कर रहे हैं। अनेक बातों की समझ है, एक बात की समझ नहीं है। उसके अन्तर में ब्राह्मण बच्चों को देख रहे थे। बापदादा भी दोनों का अन्तर देख गीत गा रहे थे। आप भी वह गीत गाते हो। जो ब्रह्मा बाप को बहुत प्रिय लगता है, बापदादा बच्चों के प्रति गा रहे थे, जो आज ब्रह्मा बाप बहुत मस्ती में गा रहे थे – कितने भोले कितने प्यारे मीठे-मीठे बच्चे। जैसे आप लोग बाप के लिए गाते हो ना। बाप भी बच्चों के लिए यही गीत गाते, ऐसे ही इसी स्मृति-स्वरूप में किसके प्यारे हैं, किसके मीठे हैं, कौन बच्चों का गीत गाता है। यह स्मृति सदा निर्माण बनाए स्व-अभिमान के नशे में स्थित कर देती है। इसी नशे में कोई नुकसान नहीं। इतना नशा रहता है? आधा कल्प आपने भगवान के गीत गाये और अब भगवान गीत गा रहे हैं। दोनों तरफ के बच्चों को देख रहम और स्नेह दोनों आ रहे थे।

ब्रह्मा बाप को आज भारत के और विदेश के अन्जान बच्चे विशेष याद आ रहे थे। दुनिया वाले तो उन्हों को वी.आई.पी. (V.I.P.) कहते हैं लेकिन बाप उन बच्चों को वी.आई.पी.अर्थात् वेरी इनोसेन्ट परसन, (Very innocent person) इस रूप में देख रहे थे। आप सेन्ट (Cent) हो वे इनोसेन्ट हैं लेकिन अभी उन्हों को भी अंचली दो। अंचली देने आती है। आपके लाइन में उन्हों का नम्बर अभी पीछे है वा आगे है? क्या समझते हो? (साइलेन्स की ड्रिल)

ऐसे विशेष साइलेन्स की शक्ति उन आत्माओं को दो। अभी संकल्प उठता है कि कोई सहारा, कोई नया रास्ता मिलना चाहिए। अभी चाह उत्पन्न हो रही है। अब राह दिखाना आप सबका कार्य है। “एकता और दृढ़ता” यह दो साधन हैं राह दिखाने के। संगठन की शुभ भावना ऐसी आत्माओं को भावना का फल दिलाने के निमित्त बनेगी। सर्व का शुभ संकल्प उन आत्माओं में भी शुभ कार्य करने के संकल्प को उत्पन्न करेगा। इसी विधि को अभी से अपनाओ। फिर भी बड़ा कार्य सफल तब होता है जब सबके शुभ संकल्पों की आहुति पड़ती है। समझा। बापदादा तो यही सभी के प्रति कहते हैं कि कोई बच्चा वंचित न रह जाए। आप सभी तो मालामाल हो गये ना। अच्छा –

ऐसे श्रेष्ठ सौदा करने वाले श्रेष्ठ सौदागर, सदा रत्नों से पलने ओर खेलने वाले मास्टर रत्नागर बाप के अति स्नेही सदा सहयोगी सिकीलधे, पहचानने के नेत्रधारी, सदा सेवाधारी, सदा मेरा बाबा के गीत गाने वाले, विशेष आत्माओं को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

पार्टियों से मुलाकात

मद्रास निवासियों प्रति:- सभी उमंग-उत्साह में हो ना। सभी के मन में एक ही उमंग-उत्साह है ना कि बाप को कैसे प्रत्यक्ष करें। अभी तो स्टेज भी तैयार कर रहे हो ना। स्टेज तैयार कर रहे हो प्रत्यक्षता का झण्डा लहराने के लिए। स्थूल झण्डा और भी लहराते हैं, आप सभी कौन सा झण्डा लहरायेंगे? कपड़े वाला झण्डा लहरायेंगे, क्या करेंगे? वह तो हुआ निमित्त मात्र लेकिन असली झण्डा कौन सा लहरायेंगे? बाप को प्रत्यक्ष करने का। बाप आये हैं यह आवाज फैलाने का झण्डा लहरायेंगे। इसकी तैयारी कर रहे हो ना। सभी आत्मायें जो वंचित हैं उन्हों को रोशनी मिल जाए, रास्ता मिल जाए। यही पुरुषार्थ सभी कर रहे हैं और आगे भी करना है। अभी से यह लहर फैलायेंगे तब उस समय चारों ओर यह लहर फैला सकेंगे। ऐसी तैयारी की है ना। सदा यह सोचो जो अब तक कहाँ नहीं हुआ है, वह हम करके दिखायेंगे। नया कुछ करना है। नई बात यही है जो सर्व आत्माओं को परिचय मिले और वह समझें, वर्णन करें, अनुभव करें कि बाप आ गये। अच्छा-

आमंत्रित भाई बहनों के ग्रुप से:-

सभी अपने को विशेष आत्मायें तो समझते हो ना। विशेष आत्मायें हो या बनना है? करेंगे, देखेंगे, सोचेंगे, ऐसी गें गें की भाषा वाले तो नहीं हो ना। अपने महत्व को जानो कि हम सबका महत्व कितना है। जितना बाप बच्चों के महत्व को जानते हैं उतना बच्चे अपने महत्व को सदा याद नहीं रखते। जानते हैं लेकिन याद नहीं रखते। अगर याद रहता – तो सदा ही समर्थ बन औरों को भी समर्थ बनाने के, उमंग-उत्साह बढ़ाने के निमित्त बनते। तो निमित्त हो ना? बीती सो बीती कर लिया है। बीती को भुला दिया और वर्तमान, भविष्य सदा उमंग-उत्साह वाला बना लिया। चलते-चलते साधारण जीवन में चलने वाले अपने को अनुभव करते हो, लेकिन साधारण नहीं हो। सदा श्रेष्ठ हो। व्यवहार किया, पढ़ाई की, प्रवृत्ति सम्भाली, यह कोई विशेषता नहीं है। यह भी साधारणता है। यह तो लास्ट नम्बर वाले भी करते हैं। तो जो लास्ट नम्बर वाले भी करते वह आदि रत्न भी करें तो क्या विशेषता हुई। आदि रत्न अर्थात् हर संकल्प और कर्म में औरों से विशेषता हो। दुनिया वालों की भेंट में तो सब न्यारे हो गये, लेकिन अलौकिक परिवार में भी जो साधारण पुरुषार्थी हैं, उनसे विशेष हो। दुनिया के हिसाब से लास्ट नम्बर भी विशेष है लेकिन ईश्वरीय परिवार में आदि रत्न हो, विशेष हो। उसी हिसाब से अपने को देखो। बुजुर्ग सदा छोटों को अच्छे ते अच्छी सहज राय देने वाले, रास्ता दिखाने वाले होते हैं। ऐसे आप मुख से बोलने वाले नहीं लेकिन करके दिखाने वाले हो। तो हर कदम, हर कर्म ऐसा हो जो ईश्वरीय परिवार की आत्माओं को विशेष दिखाई दे। यही विशेष आत्माओं का कर्तव्य है ना। जो आप विशेष आत्माओं को देखे उसे बाप की स्मृति आ जाए। जैसे देखो यहाँ मधुबन में अभी भी साकार रूप में दीदी, दादी को देखते हैं तो उन्हों के कर्म में विशेष क्या समाया हुआ दिखाई देता है? बाप दिखाई देता है ना! यह भी साकार आत्मायें हैं ना। यह ब्रह्मा जैसी विशेष पार्टधारी तो नहीं, निराकार शिव बाप जैसी भी नहीं, ब्रह्मा जैसी भी नहीं। ब्राह्मण हैं। तो वह भी ब्राह्मण आप भी ब्राह्मण, तो जैसे वह विशेष निमित्त आत्मायें हैं, कैसे निमित्त बनीं? जिम्मेवारी समझती हैं ना। जिम्मेवारी ने ही विशेष बना दिया। ऐसे ही स्वयं को भी अनुभव करते हो ना। आप भी जिम्मेवार हो ना या दीदी दादी ही जिम्मेवार हैं। सेवा के क्षेत्र में तो आप ही निमित्त हो ना। चारों ओर बापदादा ने सभी विशेष आत्माओं को निमित्त बनाया है। कोई कहाँ, कोई कहाँ। इतनी जिम्मेवारी सदा स्मृति में रहे। जैसे दीदी दादी को निमित्त देख रहे हो। ऐसे ही आप लोगों से सबको अनुभव हो। वह समझें कि यह आदि रत्न हैं, इन्हों से हमें विशेष उमंग-उत्साह की प्रेरणा मिलती है। यह कहती तो नहीं हैं ना कि हम दीदी दादी हैं, हमको मानो, लेकिन कर्म स्वत: ही आकर्षित करते हैं। ऐसे ही आप सबके विशेष कर्म सबको आकर्षित करें। इतनी जिम्मेवारी है। ढीले तो नहीं हो ना। क्या करें, कैसे करें, डबल ज़िम्मेवारी है। ऐसे कहने वाले नहीं। छोड़ा और छूटा। इतनी बेहद की जिम्मवारी होते भी बाप को देखो ना। स्थूल जिम्मेवारी भी देखी ना। शिवबाबा की बात किनारे कर दो, लेकिन ब्रह्मा बाप को तो साकार में देखा ना। ब्रह्मा बाप जितनी जिम्मेवारी स्थूल में भी किसी को नहीं है। आप सोचेंगे क्या करें वायुमण्डल में रहते हैं। वायब्रेशन खराब रहते हैं। बगुले ठेंगें लगाते रहते हैं। चारों ओर आसुरी सम्प्रदाय है। लेकिन ब्रह्मा बाप ने आसुरी सम्प्रदाय के बीच न्यारा प्यारा बनकर दिखाया ना। तो फालो फादर।

अभी क्या करेंगे? यहाँ से जाओ तो सब अनुभव करें कि हमारा उमंग-उत्साह बढ़ाने वाले स्तम्भ आ गये हैं। समझा। ऐसे बाप की उम्मीदों के सितारे हो। छोटे छोटों की कोई भी बातें दिल पर नहीं रखो। बुजुर्गों की दिल फराखदिल, बड़ी दिल होती है। छोटी दिल नहीं होती। जैसे ब्रह्मा बाप ने सभी की कमजोरियों को समाकर श्रेष्ठ बना दिया ऐसे आप निमित्त हो। कभी भी यह नहीं सोचना कि यह ऐसे करते हैं, यह तो सुनते ही नहीं हैं। न सुनने वाले को भी सुनने वाला बनाना आपका काम है। वह छोटे हैं बड़े आप हो। बड़ों को बदलना है। छोटे तो होते ही नटखट हैं। तो उनकी कमजोरियों को नहीं देखो – बुजुर्ग बन कमजोरियों को समाने वाले, बाप समान बनाने वाले बनो। इतनी जिम्मेवारी है आप लोगों की। यह जिम्मेवारी फिर से स्मृति दिलाने के लिए बुलाया है। समझा। सागर के बच्चे हो ना। सागर क्या करता है? समाता है। सबका समाकर रिफ्रेश कर देते हैं। तो आप भी सबकी बातों को समाकर सबको रिफ्रेश करने वाले। जो आये वह अनुभव करे कि इस विशेष आत्मा के संग से विशेष रंग चढ़ गया। सहयोग मिल गया। आप भी “सहयोग दो, सहयोग दो”, ऐसा कहने वाले तो नहीं हो ना। सहयोग देने वाले हो। जब आदि से सहयोगी बने हो तो अन्त तक सहयोग देने वाले साथी बनेंगे ना। इतने सहयोग देंगे तो छोटे तो उड़ जायेंगे। जिस भी स्थान पर आप लोग जायेंगे वह स्थान उड़ने वाला स्थान बन जायेगा ना। आप उड़नखटोले बनकर जाओ, जो भी बैठे, सम्पर्क में आये वह उड़ जाए। बापदादा को खुशी है, कौन सी? कितने साथी हैं। जब समान को देखा जाता है तो समान बच्चों को देख बाप को खुशी होती है। अभी यहाँ थोड़े आये हैं, और भी हैं, जितने भी आये हैं, उतनों को भी देख बाप खुश होते हैं। अब तो उड़नखटोला बन सबको उड़ाओ। हमारे भाई इतनी मेहनत कर रहे हैं, तरस आता है ना। सहयोग दो और उड़ाओ।

यही सेवा है विशेष आत्माओं की। जिज्ञासु समझाया, कोर्स कराया, मेला कराया, किया। यह सब करते रहते हैं। मेले में भी आप विशेष आत्माओं की विशेषता को देखें। बस आपका खड़ा होना और सभी को उमंग आना। काम करने वालों को विशेष उमंग-उत्साह का ही सहयोग चाहता है। काम करने वाले आपके छोटे भाई बहन बहुत आ गये हैं। आप बुजुर्गों का काम है उन साथियों को स्नेह की दृष्टि देना, उमंग उत्साह का हाथ बढ़ाना। आपको देखकर बाप याद आ जाए। सबके मुख से निकले यह तो बाप के स्वरूप हैं। जैसे इन दोनों के लिए (दीदी, दादी के लिए) निकलता है कि यह बाप स्वरूप है क्योंकि सेवा में प्रैक्टिकल कर्म कर रही हैं। तो ऐसे ही दृढ़ संकल्प का समारोह जरूर मनाना। क्या समझा? आप लोग तो तूफानों में नहीं आते हो ना। तूफानों से पार होने वाले। तूफानों में आने वाले नहीं। आप एग्जैम्पल हो ना। आपको देखकर सब समझते हैं ऐसे ही चलना है, ऐसे ही होता है। तो इतना अटेन्शन रहे। अच्छा।

वरदान:- निर्विघ्न स्थिति द्वारा वायुमण्डल को पावरफुल बनाने वाले मास्टर सर्वशक्तिमान् भव
आपकी सेवा है पहले स्व को निर्विघ्न बनाना फिर औरों को निर्विघ्न बनाना। अगर स्वयं ही विघ्नों के वश होते रहेंगे तो अन्त में निर्विघ्न नहीं रह सकेंगे इसलिए बहुतकाल की निर्विघ्न स्थिति बनाओ, कमजोर आत्माओं को भी बाप द्वारा प्राप्त हुई शक्ति दे शक्तिशाली बनाओ, मास्टर सर्वशक्तिमान् हूँ इस स्थिति का अनुभव करो – तब वायुमण्डल पावरफुल बनेगा।
स्लोगन:- जो रॉयल बाप के रॉयल बच्चे हैं, उनकी हर चलन से रायॅल्टी दिखाई देती है।
Font Resize